राजनीति


bhopal, Ex-minister, BJP leader, not satisfied, with party,  Premchand Guddu, return to Congress

भोपाल। करीब डेढ़ साल पहले कांग्रेस छोड़ भाजपा में गए पूर्व सांसद प्रेमचंद गुड्डू एक बार फिर घर वापसी कर रहे हैं। विवादित बयान देने के बाद भाजपा से निष्कासित हुए प्रेमचंद गुड्डू के कांग्रेस में शामिल होने की अटकलें तेज हो गई थी, जिस पर अब विराम लग गया है। आज दोपहर एक बजे प्रेमचंद गुड्डू अपने बेटे अजित बौरासी के साथ कांग्रेस का हाथ दोबारा थाम लेंगे। इसके लिए प्रेमचंद गुड्डू अपने बेटे के साथ भोपाल के लिए रवाना हो गए है। यहां वे कांग्रेस के आला नेताओं के साथ मुलाकात करने के बाद पूर्व सीएम कमलनाथ और दिग्विजय सिंह की मौजूदगी में कांग्रेस की सदस्यता लेंगे।    वहीं कांग्रेस में प्रेमचंद गुड्डू की वापसी को लेकर पूर्व मंत्री और वरिष्ठ कांग्रेस विधायक पीसी शर्मा ने बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा है कि प्रेमचंद गुड्डू बड़े नेता हैं। वे लोकसभा में सांसद और विधायक भी रहे हैं। हम कॉंग्रेस में उनका स्वागत करते हैं। उन्होंने कहा कि कांग्रेस में सर्व सहमति से उनकी वापसी हो रही है। प्रेमचंद गुड्डू को टिकट दिए जाने के जवाब में पीसी शर्मा ने कहा कि पार्टी हाईकमान तय करेगी कि गुड्डू चुनाव लड़ेंगे या नहीं। 1-1 सीट पर कांग्रेस के 25 दावेदार, इसलिए सर्वे से फैसला होगा।   वहीं भाजपा पर तंज कसते हुए पीसी शर्मा ने कहा कि भाजपा के नेता पार्टी से संतुष्ट नहीं है। यहीं कारण है कि नेताओं का भाजपा का दामन छोड़ कांग्रेस में आने का सिलसिला शुरू हो गया है। उन्होंने दावा किया है कि भाजपा में भारी असंतोष है और इस कारण हर विधानसभा से भजपाई कांग्रेस में शमिल होंगे।  

Dakhal News

Dakhal News 31 May 2020


bhopal, CM Shivraj, appeals ,public ,World Tobacco Prohibition Day

भोपाल। तंबाकू सेवन के घातक परिणामों को लेकर लोगों के बीच जागरुकता पैदा करने के लिए दुनिया भर में हर साल 31 मई को विश्व तंबाकू निषेध दिवस के रूप में मनाया जाता है। इद्य दिन को मनाने के लिए वल्र्ड नो टोबैको डे की थीम भी रखी जाती है। इस साल यह दिवस युवाओं को तंबाकू और निकोटिन से दूर रखने के लिए प्रेरित किए जाने की थीम पर मनाया जा रहा है।   विश्व तंबाकू निषेध दिवस पर मप्र के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रदेशवासियों से इस बुरी आदत के प्रति जागरुक होने और स्वस्थ विश्व का निर्माण करने में सहयोग की अपील की है। सीएम शिवराज ने ट्वीट के माध्यम से संदेश दिया है। उन्होंने ट्वीट कर कहा है कि ‘विश्व में 80 लाख से अधिक अमूल्य जिंदगियां प्रति वर्ष तंबाकू की भेंट चढ़ जाती हैं। थोड़ी-सी जागरूकता और प्रयास से हम सब इसे रोक सकते हैं। प्रण करें कि इस जानलेवा तंबाकू के सेवन से स्वयं एवं दूसरों को भी बचायेंगे और स्वस्थ विश्व के निर्माण में योगदान देंगे।    मप्र के गृह एवं स्वास्थ्य मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने विश्व तंबाकू निषेध दिवस पर नागरिकों से तंबाकू उत्पादों से दूरी बनाने और स्वस्थ जीवनशैली अपनाने की अपील की है। उन्होंने ट्वीट कर कहा ‘अपने और समाज के स्वस्थ व बेहतर भविष्य के लिए तंबाकू और उससे जुड़े उत्पादों का सेवन त्यागें। परिवार के प्रति अपनी जिम्मेदारी समझें। तंबाकू को ना कहें, जीवन को हां कहें।   इसी प्रकार केन्द्रीय मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर और पूर्व प्रदेश अध्यक्ष व भाजपा सांसद राकेश सिंह ने ट्वीट कर कहा है कि ‘जिंदगी को हां, तंबाकू को ना विश्व तम्बाकू निषेध दिवस पर तम्बाकू मुक्त जीवन की प्रतिज्ञा लें । विश्व तम्बाकू निषेध दिवस...तम्बाकू का सेवन व धूम्रपान करना स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है...।   

Dakhal News

Dakhal News 31 May 2020


bhopal,Congress retaliated ,BJP MLA, statement

भोपाल। प्रदेश कांग्रेस के महासचिव राजेन्द्र मंडलोई ने शुक्रवार को एक बयान जारी करते हुए कहा कि हुज़ूर विधायक रामेश्वर शर्मा अपनी सरकार की नाकामी छुपाने के लिए दूसरों पर ठीकरा फोड़ रहे हैं। पूरे देश में मजदूरों की स्थिति किसी से छुपी नहीं है। सरकार ने अस्पतालों में न तो स्वास्थ्य व्यवस्थाओं के इंतजाम किए, न गरीब के घर राशन की व्यवस्था की और न ही मजदूरों के घर जाने की कोई व्यवस्था कर पाई। देश को मजबूती देने वाले मजदूर आज पैदल जाने को मजबूर हैं और भाजपा नेता मजदूरों पर टिप्पणी कर रहे हैं, जो शर्मनाक है।    मंडलोई ने भाजपा विधायक रामेश्वर शर्मा पर कटाक्ष करते हुए कहा कि जनता की सेवा में लगी कांग्रेस पर आरोप लगाकर अपनी राजनीति चमकाने में लगे हुज़ूर विधायक रामेश्वर शर्मा को अपने गिरेबान में झांकना चाहिए। प्रदेश में जब कोरोना फैल रहा था तब भाजपा नेता जनता के चुने हुए वोट से बनी सरकार को गिराने में लगे थे  और अब नाकामी पर पर्दा डाल रहे हैं। मजदूरों और गरीबों की चिंता करने वाली कांग्रेस पर आरोप लगा कर रामेश्वर शर्मा ओछी राजनीति का परिचय दे रहे है।     इसके साथ ही कांग्रेस के प्रदेश महासचिव राजेंद्र मंडलोई ने कहा कि एक तरफ तो पूरे देश भर में लॉकडाउन है, मंदिर मस्जिद, चर्च, गुरुद्वारे जाने में पाबंदी है लेकिन भाजपा कार्यालय में खुलेआम लॉकडाउन का उल्लंघन और सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां उड़ाई जाती है।

Dakhal News

Dakhal News 29 May 2020


bhopal,Ex-minister, raising question , poster of missing MP

भोपाल। राजधानी भोपाल में सांसद साध्वी प्रज्ञा के गुमशुदगी के पोस्टर को लेकर राजनीतिक बयानबाजी शुरू हो गई हैं। पूर्व मंत्री और वरिष्ठ कांग्रेस विधायक पीसी शर्मा ने कहा है कि सांसद प्रज्ञा को जनता ने भारी मतों से विजयी किया था लेकिन आज जब जनता को उनकी जरुरत है तो वह गायब है। उन्होंने कहा कि जिसने भी यह सवाल उठाया है बिल्कुल सही है।    पीसी शर्मा ने शुक्रवार को मीडिया से बातचीत करते हुए भोपाल सांसद साध्वी प्रज्ञा के गुमशुदा पोस्टर पर कहा कि लाखों मतों से जीत कर संसद गई सांसद साध्वी प्रज्ञा जिनका आज कोई अता पता नही है। कोरोना संकट काल में जब लोगों को उनकी आवश्यकता थी, गरीब परेशान हो रहे थे, राशन मिल नही रह था तब सांसद गायब है। उन्होंने कहा कि ऐसे हालात में दिग्विजय सिंह जनसेवा में लगे हुए है। पीसी शर्मा ने तंज कसते हुए कहा कि जिसने भी पोस्टर लगाए है और पूछा है कि सांसद कहाँ गायब है, वह सही पूछ रहे हैं। उन्होंने कहा कि साध्वी है तो मंदिर पुजारियों की बात कर लेतीं, पुजारियों को 10हज़ार रुपये देने की मांग कर लेती। उन्होंने कहा कि वह खुद को धर्म के ठेकेदार बताते है लेकिन धर्म की ही बात नही की। ऐसे में दो महीने से सांसद का गायब होना सवाल खड़े करता है।    इसके अलावा कोरोना को लेकर प्रदेश सरकार द्वारा किए जा रहे कामों को लेकर पीसी शर्मा ने कहा कि लॉकडाउन में व्यापारियों के हितों को ध्यान में रखते हुए दुकान खोलने के समय को बढ़ाना चाहिए। उन्होंने कहा है कि सुबह 11 से 5 बजे तक दुकानें खुल रही है जिसका समय बढ़ा कर रात आठ बजे तक कर देना चाहिए। इसके पीछे उन्होंने तर्क दिया है कि भोपाल कर्मचारियों का शहर है, यहां सभी सुबह 11 से शाम 5 तक ऑफिस में रहते है। ऐसे में उन्हें बाजार जाने का समय नहीं मिल पाता। अगर रात आठ बजे तक दुकाने खुली तो लोग खरीददारी कर सकेंगे। सरकार पर निशाना साधते हुए पीसी शर्मा ने कहा कि इन्होंने तो तय कर लिया है कि व्यापारी उसी हालत में रहे जैसे लॉकडाउन के समय थे। इस संकट से निकलने का सरकार के पास कोई प्लान नही है। 

Dakhal News

Dakhal News 29 May 2020


bhopal, Chief Minister, Shivraj Singh Chauhan, paid tribute, Daddaji Dham

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आज कटनी झिझरी स्थित दद्दाधाम पहुँचकर जाने-माने गृहस्थ संत पूज्य देव प्रभाकर शास्त्री दद्दा जी को श्रृद्धांजलि दी। गृहस्थ संत पूज्य देव प्रभाकर शास्त्री दद्दा जी का 17 मई को देव लोक गमन हो गया था। मुख्यमंत्री चौहान ने स्व. दद्दाजी के तीनों बेटों डॉ. अनिल, डॉ. सुनील और नीरज त्रिपाठी से भेंटकर सांत्वना दी। इस मौके पर सांसद विष्णुदत्त शर्मा, गृह एवं स्वास्थ्य मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र,आदिम जाति कल्याण मंत्री मीना सिंह, सुहास भगत, विधायक संजय पाठक उपस्थित थे। इस अवसर पर दद्दाजी शिष्य मंडल के अभिनेता आशुतोष राणा और राजपाल यादव भी उपस्थित थे।

Dakhal News

Dakhal News 29 May 2020


bhopal,Home Minister, Dr. Mishra,  discuss video conferencing ,small entrepreneurs

भोपाल। गृह, लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री नरोत्तम मिश्रा से सोमवार सुबह मध्यप्रदेश लघु उद्योग संघ के महासचिव विपिन कुमार जैन ने मुलाकात की। इस दौरान उन्होंने लघु उद्यमियों से चर्चा करने का अनुरोध किया। डॉ. मिश्रा ने कहा है कि वे शीघ्र ही लघु उद्यमियों से वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से चर्चा करेंगे।   मध्यप्रदेश लघु उद्योग संघ के महासचिव विपिन कुमार जैन ने गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा से मुलाकात के दौरान लॉकडाउन के कारण प्रदेश के लघु उद्यमियों को हो रही परेशानी से अवगत कराया। उन्होंने मंत्री मिश्रा से लघु उद्यमियों के साथ चर्चा करने का अनुरोध किया। गृहमंत्री डॉक्टर नरोत्तम मिश्रा ने महासचिव विपिन कुमार जैन से कहा है कि वे शीघ्र ही लघु उद्यमियों से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से चर्चा करेंगे। उन्होंने आश्वस्त किया कि संक्रमण काल में लघु उद्यमियों को आने वाली परेशानी दूर करने के लिए हर संभव प्रयास करेंगे।

Dakhal News

Dakhal News 25 May 2020


bhopal, BJP leaders,Chief Minister, congratulate people,Eid ul Fitr

भोपाल। देशभर में आज सोमवार को ईद-उल-फितर का त्यौहार बड़े ही धूमधाम से मनाया जा रहा है। मध्य प्रदेश में भी ईद का पर्व हर्षोल्लास के साथ बन रहा है। हालांकि इस बार कोरोना वायरस के संक्रमण की वजह से मुस्लिम धर्मावलंबी घरों पर ही ईद मना रहे हैं। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान समेत भाजपा नेताओं ने प्रदेशवासियों को ईद की मुबारकबाद देते हुए सावधानी के साथ त्यौहार को मनाने की अपील की है।    मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट कर ईद की शुभकामनाएं देते हुए कहा है कि ‘ईद मुबारक! आपके घरों में बरकत और रहमत बरसे! ईद की दिली मुबारकबाद! इस साल गले मिलकर नहीं, दिल से दिल को मिलाएं और मुबारकबाद दें। मास्क पहनें, दो गज की दूरी पर रहें। अपना और अपनों का खयाल रखें।   भाजपा प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा ने अपने ट्वीट में कहा ‘पावन पर्व ईद की हार्दिक शुभकामनाएं!   पूर्व केन्द्रीय मंत्री और वरिष्ठ भाजपा नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया ने ईद के पर्व पर भाईचारे और खुशहाली की कामना करते हुए सभी प्रदेशवासियों को ईद की शुभकामनाएं दी है। उन्होंने ट्वीट कर कहा ‘समस्त देशवासियों को ईद-उल-फितर की मुबारकबाद। ईद के इस मुबारक मौके पर हम सब मिलकर देश में अमन-चैन, भाईचारा एवं खुशहाली के लिए दुआ करें।  

Dakhal News

Dakhal News 25 May 2020


sagar, Former Leader of Opposition, Gopal Bhargava ,sent PPE kit , doctors

सागर। पूर्व नेता प्रतिपक्ष और वरिष्ठ भाजपा विधायक गोपाल भार्गव कोरोना संकटकाल में लगातार सेवा कार्य में जुटे हुए हैं। जरूरतमंद को राहत सामग्री, प्रवासी मजदूरों के लिए  भोजन और जरूरतमंद सामान पहुंचा रहे है। शनिवार को गोपाल भार्गव ने रहली विधानसभा में स्वास्थ्य सेवाएं दे रहें निजी चिकित्सकों को पीपीई किट वितरित की।    रहली के वरिष्ठ समाज सेवक देवराज सोनी को गोपाल भार्गव ने चिकित्सकों के लिए पीपीई किट सौपीं। इससे पहले भी गोपाल भार्गव कोरोना योद्धाओं को पीपीई किट भेज चुके है। इस दौरान पूर्व नेता प्रतिपक्ष भार्गव ने कहा कि कोरोना संक्रमण के विकट समय में अपने परिवार की चिंता छोड़ कर समाज को कोरोना से बचाने के लिए डॉक्टर व कर्मचारी डटे हुए हैं। कोरोना के खिलाफ जंग लडऩे वाले कोरोना योद्धाओं के रूप में शासकीय और अशासकीय डॉक्टर्स की सेवाएं अनुकरणीय है। उन्होंने कहा कि रहली नगर में सेवा कार्य में जुटे निजी डॉक्टरों को पीपीई किट वितरित की है। आगे भी जितनी पीपीई किट की आवश्यकता होगी, उसकी पूर्ति की जाएगी।  

Dakhal News

Dakhal News 23 May 2020


bhopal, BJP state president, mourns , death of Chhatarpur workers , Jammu road accident

भोपाल। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष व खजुराहो सांसद विष्णुदत्त शर्मा ने जम्मू के समीप हुए सड़क हादसे में छतरपुर के श्रमिकों के मारे पर दुख व्यक्त किया है। उन्होंने पीड़ितों को हरसंभव मदद का आश्वासन दिया है।    जम्मू के समीप हुई सड़क दुर्घटना में छतरपुर के हटवाहा गांव के श्रमिकों की मौत की खबर है। हालांकि इस दुर्घटना का फिलहाल विस्तृत ब्योरा नहीं मिल सका है। प्रदेश भाजपा अध्यक्ष विष्णुदत्त शर्मा जो खजुराहो से सांसद भी हैं, ने हादसे में श्रमिकों की मौत पर दुख व्यक्त किया है। उन्होंने ट्वीट करके कहा है कि सड़क दुर्घटना में हटवाहा के श्रमिक भाईयों के निधन की सूचना मिली। प्रदेश सरकार से मृतकों के शवों को उनके घर पहुंचाने तथा घायलों के उचित उपचार के संबंध में चर्चा की जा रही हे। उन्होंने मृतकों की आत्मिक शांति की कामना करते हुए कहा है कि ईश्वर उन्हें अपने श्रीचरणों में स्थान दे।   

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2020


bhopal,Former CM, Kamal Nath, demands , waiving six months electricity bill

भोपाल। कोरोना संकट के बीच पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने सीएम शिवराज को पत्र लिखकर गरीबों के छह माह के बिजली बिल माफ करने की मांग की है। साथ ही उन्होंने घरेलू उपभोक्ताओं, व्यावसायिक प्रतिष्ठानों और उद्योगों से फिक्स चार्ज आरोपित न कर खपत के आधार पर बिजली के बिल लेने का अनुरोध किया है।पूर्व सीएम कमलनाथ ने शुक्रवार को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को पत्र लिखा है, जिसमें उन्होंने कहा है कि प्रदेश में कोरोना लॉकडाउन के कारण जनजीवन अस्त-व्यस्त हो चुका है। रोजगार के सभी साधन एवं कल-कारखाने बंद पड़े हैं। ऐसे में प्रदेश में बिजली के भारी भरकम बिल सभी वर्ग के लिए परेशानी के सबब बनते जा रहे हैं। बिजली बिल में वास्तविक बिजली खपत के साथ-साथ फिक्स चार्ज भी लिया जा रहा है, जबकि उद्योग, व्यावसायिक प्रतिष्ठान आदि पूरी से बंद हैं। इससे आम जनता, व्यवसाय जगत एवं औद्योगिक क्षेत्रों में रोष है। उन्होंने लिखा है कि पिछले दिनों इंदौर में प्रदेश के उद्योगपतियों ने इसके विरोध में ई-धरना भी दिया था। पूर्व में आपको प्रेषित पत्रों से मेरे द्वारा इस समस्या की ओर आपका ध्यान आकर्षित कराया गया था, किन्तु आपकी सरकार द्वारा कोई सकारात्मक प्रयास नहीं किये गये, बल्कि इस कठिन परिस्थिति में भी भारी भरकम बिजली बिल थमा दिये गये। हमारी सरकार द्वारा इंदिरा गृह ज्योति योजना एवं इंदिरा किसान ज्योति योजना की शुरुआत की गयी थी, जिसमें घरेलू उपभोक्ताओं और किसान भाइयों को बिना किसी भेदभाव के बिजली के बिलों में भारी रियायत दी गई थी। इससे आम जनता में हर्ष का वातावरण था। उन्होंने अनुरोध किया है कि जनता के हितों को ध्यान में रखते हुए घरेलू उपभोक्ताओं, व्यावसायिक प्रतिष्ठानों एवं उद्योगों से ‘जितनी बिजली उतना दाम’ के सिद्धांत पर फिक्स चार्ज आरोपित न करते हुए वास्तविक खपत के आधार पर ही बिजली का बिल लिया जाए एवं इंदिरा गृह ज्योति योजना के गरीब हितग्राहियों के छह माह के बिजली बिल माफ किये जाएं। यह निर्णय प्रदेश की आम जनता, व्यवसाय जगत और उद्योगं के हित में होगा।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2020


bhopal, Health Minister, assurance, AYUSH doctors,not cancel registration

भोपाल। मध्य प्रदेश आयुष डॉक्टरों के प्रतिनिधिमंडल ने शुक्रवार को गृह, लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ नरोत्तम मिश्रा से मिलकर उन्हें ज्ञापन सौंपा। आयुष डॉक्टरों के प्रतिनिधिमंडल ने स्वास्थ्य मंत्री को अपनी समस्याओं से अवगत कराते हुए कहा कि कंटेंटमेंट एरिया में काम कर रहे अन्य डॉक्टरों की तरह उन्हें भी 60 हजार रुपए का मानदेय मिले। मंत्री डॉ मिश्रा ने उन्हें आश्वस्त किया है कि उनके साथ न्याय किया जाएगा और किसी भी डॉक्टर का रजिस्ट्रेशन कैंसिल नहीं होगा।    आयुष विभाग के डॉक्टरों के प्रतिनिधि मंडल ने शुक्रवार सुबह लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ नरोत्तम मिश्रा के निवास पर मिलकर ज्ञापन सौंपा। डॉ मनोज सोलंकी ने बताया कि उन्हें वेतन नहीं मिल रहा है। साथ ही लगातार पीपीई किट पहनने से शरीर में खुजली होने लगी है। लगातार काम करने के बावजूद उनके साथ पक्षपातपूर्ण व्यवहार किया जा रहा है। आयुष डॉक्टरों के प्रतिनिधि मंडल ने यह भी आरोप लगाया कि आयुष विभाग द्वारा उनसे जबरन ड्यूटी करवाई जा रही है। आयुष डॉक्टरों ने मांग की है कि कंटेंटमेंट एरिया में काम कर रहे अन्य डॉक्टरों की तरह उन्हें भी 60 हजार रुपये का मानदेय मिले।    आयुष डॉक्टरों की समस्या को सुनने के बाद मंत्री डॉ नरोत्तम मिश्रा ने आश्वस्त किया कि उनके साथ न्याय किया जाएगा और किसी भी डॉक्टर का रजिस्ट्रेशन कैंसिल नहीं होगा। उन्होंने कहा कि आयुष डॉक्टरों की समस्याओं को मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान के संज्ञान में लाते हुए संपूर्ण न्याय दिलाने का प्रयास करेंगे।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2020


bhopal,Ajay Singh ,expressed displeasure ,over rebels

भोपाल। कांग्रेस में बागियों की वापसी के बाद उनके बल पर उपचुनाव की रणनीति को लेकर अब विरोध के स्वर तेज होने लगे लगे है। पूर्व नेता प्रतिपक्ष और वरिष्ठ कांग्रेस नेता अजय सिंह ने बागियों की वापसी पर नाराजगी जाहिर की है। उनका कहना है कि अवसरवादियों की बजाय कांग्रेस का झंडा उठाकर चलने वालों का सम्मान होना चाहिए।    अजय सिंह ने ट्वीट के जरिए बागियों के प्रति अपनी नाराजगी जाहिर करते हुए पार्टी से अवसरवाद को न पनपने देने की ओर ईशारा किया है। दरअसल भाजपा से कांग्रेस में लौटे चौधरी राकेश सिंह और प्रेमचंद गुड्डू के सहारे में उपचुनाव में भाजपा को मात देने की रणनीति कांग्रेस बना रही है। इसी पर नाराजगी जाहिर करते हुए अजय सिंह ने ट्वीट कर लिखा है कि कांग्रेस को मजबूत बनाने और उसका जनाधार बढाने के लिए जरूरी है कि जो हर परिस्थितियों और विपरीत माहौल में कांग्रेस का झंडा उठाकर चलते रहे उनका सम्मान हो। अवसरवाद का बड़ा खामियाजा कांग्रेस ने मप्र में भुगता उसे कभी पनपने न दें और पनपे तो कांग्रेस में उनकी दोबारा कोई जगह न हो। उल्लेखनीय है कि अजय सिंह ने कुछ दिन पहले हुई कांग्रेस की बैठक में भिंड से चौधरी राकेश सिंह का दावेदारी का विरोध जताया था। साथ ही अब सांवेर से प्रेमचंद गुड्डू की दावेदारी की बात भी सामने आ रही है और ये दोनों नेता कांग्रेस छोडक़र भाजपा में गए थे।

Dakhal News

Dakhal News 21 May 2020


bhopal, Shivraj government,paid farmers, value produce, no relief ,Kamal Nath

भोपाल। मध्यप्रदेश की शिवराज सरकार द्वारा किसानों को भुगतान की गई राशि पर कांग्रेस ने हमला बोला है। पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ का कहना है कि जो राशि देने के लिए केन्द्र सरकार बाध्य है, उसे बांटकर झूठा प्रचार कर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान प्रदेश की जनता को गुमराह कर रहे हैं।    कमलनाथ ने गुरुवार को जारी अपने एक बयान में सरकार का घेराव करते हुए कहा है कि किसानों से समर्थन मूल्य पर दस हजार करोड़ रुपए की राशि देना राहत नहीं है। बल्कि किसानों द्वारा अपनी मेहनत से जो फसल उपजाई है, जिसकी खरीदी गई है उसका मूल्य सरकार ने चुकाया है,उन्हें कोई खैरात नहीं दी है। यह तो हर राज्य सरकार का फर्ज है। इसमें किस बात की तारिफ है ? यह राशि केन्द्र सरकार के द्वारा दी जाती है और देश के सभी राज्यों को यह मिलती है।    कमलनाथ ने कहा की ’’मैं आज भी इस बात पर कायम हूँ कि जब कांग्रेस सत्ता में आयी थी तब प्रदेश की वित्तीय स्थिति बेहद खराब थी, जिसकी पुष्टि स्वयं भाजपा सरकार मे वित्त मंत्री रहे जयंत मलैया ने भी की थी।’’ उन्होंने भाजपा पर आरोप लगाते हुए कहा कि झूठ बोलकर जनता को गुमराह करना भाजपा का असली चरित्र है। 16 हजार करोड़ में से 10 हजार करोड़ समर्थन मूल्य पर किसानों से उनकी उपज खरीदी गई है, इसके अलावा 3 हजार करोड़ से अधिक की राशि केन्द्रीय योजनाओं के मद की है जिसमें प्रधानमंत्री आवास योजना, सामाजिक सुरक्षा पेंशन, मध्यान्ह भोजन योजना, प्रधानमंत्री किसान मानधन योजना आदि शामिल है। यह राशि केन्द्र सरकार द्वारा सभी राज्यों को दी जाती है जो एक संवैधानिक व्यवस्था है।   सीएम शिवराज द्वारा संबल योजना को दोबारा शुरू किए जाने पर कटाक्ष करते हुए कमलनाथ ने कहा कि भाजपा सरकार द्वारा शुरू की गई संबल योजना में भाजपा कार्यकर्ताओं के नाम जोडक़र उन्हें फायदा पहुंचाया जा रहा था। गरीबों के नाम पर अपात्र लोगों को लाभ मिल रहा था। इस योजना का नाम बदलकर नया सवेरा करके कांग्रेस सरकार ने इसकी सूची का सत्यापन किया और उसमें सुधारकर अपात्र लोगों को हटाने का काम किया। योजना में कांग्रेस सरकार ने 813 करोड़ की राशि पात्र गरीबों को दी गयी थी जिसमें अंत्येष्टि, दुर्घटना मृत्यु, अपंगता आदि शामिल है, जबकि भाजपा सरकार नें मात्र 340 करोड़ ही अपने पूर्व कार्यकाल में वितरित की थी। उन्होंने कहा कि बड़े दुख की बात है कि भाजपा ने फिर से उन सभी अपात्रों को जोड दिया जो भाजपा के लोग हैं। इससे सरकार के खजाने पर करोड़ों का बोझ पड़ेगा।   सीएम शिवराज द्वारा पूर्ववर्ती कमलनाथ सरकार पर खाली खजाने का रोना रोने वाले बयान पर कमलनाथ ने कहा की जहां तक खाली खजाने की बात है, मैं आज भी इस बात पर कायम हूँ। उन्होंने कहा कि अपने हितों को साधने के लिये किस तरह प्रदेश का बेड़ा गर्क किया गया। डेढ़ साल के कार्यकाल में हमारा लगभग समय प्रदेश की खराब वित्तीय स्थिति कों संवारने में लगा। लगभग 2 हजार करोड़ की ऐसी योजनायें थी जिनका कोई बजट प्रावधान नहीं था, सिर्फ चुनाव जीतने के लिये शिवराज सरकार ने झूठी घोषणायें कर दी थी। उन्होंने कहा करोड़ों रूपये की उधारी भी कांग्रेस सरकार ने चुकायी। अगर खाली खजाना नहीं था तो शिवराज जी बताए उन्होंने आचार संहिता के दौरान खुले बाजार से कर्ज क्यों लिया था?   सीएम शिवराज पर तंज कसते हुए कमलनाथ ने कहा कि शिवराज ऐसे मुख्यमंत्री हैं जिन्हें अपने प्रदेश की स्थिति का कोई ज्ञान नहीं है और वे सिर्फ झूठे प्रचार के जरिए अपनी तारिफ के कसीदे पड़ते रहते है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस और भाजपा सरकार में फर्क यह है कि हमारी सरकार काम करने वाली सरकार थी और भाजपा की सिर्फ बातें करने वाली सरकार है। प्रदेश की जनता भी इस सच्चाई को जानती है। वर्ष 2018 के चुनाव में भी उसने सच्चाई का साथ दिया था, इस बार भी उपचुनाव में वह सच्चाई के साथ खड़ी होगी।  

Dakhal News

Dakhal News 21 May 2020


bhopal, Home Minister, Dr. Narottam Mishra ,,Bhopal collector, Bairagarh textile traders

भोपाल। गृह, लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ नरोत्तम मिश्रा ने गुरुवार को भोपाल कलेक्टर तरुण पिथोड़े से फोन पर चर्चा कर बैरागढ़ के संत हिरदाराम नगर मार्केट को खोलने के संबंध में चर्चा की। उन्होंने बताया कि गाइडलाइन संबंधी निर्देशों का आवश्यक पालन करते हुए 25 मई  से बैरागढ़ मार्केट खोला जाएगा।    इससे पूर्व गुरुवार सुबह संत हिरदाराम नगर बैरागढ़ के व्यापारियों ने गृहमंत्री को ज्ञापन सौंपते हुए मांग की थी कि मार्केट खोलने की अनुमति शासन प्रदान करें। व्यापारियों ने बताया कि संत हिरदाराम नगर में कपड़ा, बर्तन और सर्राफा का होलसेल व्यवसाय है। लॉक डाउन के कारण विगत 2 माह से व्यापारियों और उनसे जुड़े हुए अन्य परिवारों को आर्थिक संकट का सामना करना पड़ रहा है। व्यापारियों ने मांग की कि सरकार उनकी मदद करें और मार्केट खोलने की अनुमति प्रदान करें।  

Dakhal News

Dakhal News 21 May 2020


bhopal,Former minister ,PC Sharma, retaliated , raising questions,Shivraj government

भोपाल। मध्यप्रदेश की शिवराज सरकार ने बड़ा कदम उठाते हुए कमलनाथ सरकार के आखिरी 6 महीने के दौरान लिए गए फैसलों की जांच के लिए ‘मंत्री समूह’ का गठन किया है। ग्रुप और मिनिस्टर्स 20 मार्च, 2020 से 6 महीने पहले तक की अवधि में तत्कालीन कमलनाथ सरकार द्वारा लिए गए फैसले की समीक्षा करेगा। सोमवार को मंत्रालय में मंत्री समूह की बैठक भी हुई जिसमें गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कर्जमाफी को सदी का सबसे बड़ा घोटाला बताया। पूर्व केन्द्रीय मंत्री और वरिष्ठ कांग्रेस विधायक पीसी शर्मा ने कमलनाथ सरकार के आखिरी 6 माह के फैसलों की समीक्षा के लिए कोरोना के भीषण संकट काल में शिवराज सरकार द्वारा गठित समिति पर सवाल उठाया है।    पीसी शर्मा ने मंगलवार को मीडिया से बातचीत के दौरान शिवराज सरकार पर पलटवार करते हुए कहा कि भाजपा को उपचुनाव में हार का डर है, इसलिए वो इस तरह के काम कर रही है, लेकिन कितनी भी जांच करा लें कुछ नहीं मिलेगा। उन्होंने कोरोना संक्रमण काल में जांच की बात को हास्यास्पद बताते हुए इस समिति के सदस्यों पर भी सवाल उठाए और आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि  पिछली सरकार के मंत्री जो वर्तमान में भी मंत्री हैं क्या उनके विभागों की भी जांच होगी। गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा द्वारा किसान कर्जमाफी को सदी का सबसे बड़ा घोटाला बताए जाने पर पीसी शर्मा ने कहा कि जहां तक सवाल किसान कर्जामाफी का है, मुख्यमंत्री बनते ही कमलनाथ ने सबसे पहले साइन किसान कर्जामाफी की फाइल पर किए थे। स्टेज बाय स्टेज कर्जा माफ किया जा रहा था। झाबुआ चुनाव इसी की दम पर जीते थे।  

Dakhal News

Dakhal News 19 May 2020


bhopal,BJP leaders,CM Shivraj , birth anniversary ,Kshatriya Shiromani Prithviraj Chauhan

भोपाल। महान वीर योद्धा हिन्दू सम्राट पृथ्वीराज चौहान की आज मंगलवार को जयंती है। भारतीय इतिहास में पृथ्वीराज चौहान एक बहुत ही अविस्मरणीय नाम है। हिंदुत्व के योद्धा कहे जाने वाले चौहान वंश में जन्मे पृथ्वीराज आखिरी हिन्दू शासक भी थे। पृथ्वीराज चौहान की जयंती पर मप्र के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान समेत भाजपा नेताओं ने उनके पराक्रम को प्रणाम कर नमन किया है।    मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट कर पृथ्वीराज चौहान के अदम्य साहस और पराक्रम को याद करते हुए उन्हें श्रद्धांजलि दी है। सीएम शिवराज ने ट्वीट कर कहा है कि ‘भारतभूमि के गौरव की रक्षा के लिए मुहम्मद ग़ोरी जैसे आतताई को बार-बार युद्ध में पराजित करने वाले महान योद्धा पृथ्वीराज चौहान की जयंती पर कोटिश: नमन! 'धर्म ही ऐसा मित्र है,जो मरणोत्तर भी साथ चलता है' के मंत्र पर अंतिम सांस तक आचरण करने वाले अपने वीर सपूत पर देश को सदैव गर्व रहेगा।   भाजपा राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने अपने ट्वीट में क्षत्रिय शिरोमणि पृथ्वीराज चौहान की जयंती पर शुभकामनाएं देते हुए नमन कर कहा ‘चार बांस चौबीस गज, अंगुल अष्ट प्रमाण। ता ऊपर सुलतान है, मत चुको चौहान।। हिन्दू सम्राट क्षत्रिय शिरोमणि पृथ्वीराज चौहान जी जयंती की हार्दिक शुभकामनाएं एवं शत-शत नमन।    वरिष्ठ भाजपा नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया ने ट्वीट कर लिखा ‘वीर शिरोमणि सम्राट पृथ्वीराज चौहान जी की जयंती पर उन्हें मेरा कोटि-कोटि नमन।   भाजपा सांसद और पूर्व प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह ने पृथ्वीराज चौहान की जयंती पर शुभकामनाएं देते हुए कहा ‘चार बांस चौबीस गज, अंगुल अष्ट प्रमाण,ता ऊपर सुल्तान है, मत चूको चौहान। शब्दभेदी बाण की कला के जानकर, सनातन संस्कृति के रक्षक, वीर शिरोमणि, सम्राट पृथ्वीराज चौहान की जयंती पर हार्दिक शुभकामनाएं।    पूर्व नेता प्रतिपक्ष और वरिष्ठ भाजपा विधायक गोपाल भार्गव ने अपने ट्वीट में कहा ‘मातृभूमि की आन-बान-शान के लिए सर्वस्व न्यौछावर करने वाले वीर शिरोमणि "पृथ्वीराज चौहान" जी की जयंती पर आप सभी देश वासियों को हार्दिक शुभकामनाएँ। मातृ भूमि के लिये ऐसा जज़्बा हम सभी के भीतर भी हो।

Dakhal News

Dakhal News 19 May 2020


bhopal,BJP leaders,CM Shivraj , birth anniversary ,Kshatriya Shiromani Prithviraj Chauhan

भोपाल। महान वीर योद्धा हिन्दू सम्राट पृथ्वीराज चौहान की आज मंगलवार को जयंती है। भारतीय इतिहास में पृथ्वीराज चौहान एक बहुत ही अविस्मरणीय नाम है। हिंदुत्व के योद्धा कहे जाने वाले चौहान वंश में जन्मे पृथ्वीराज आखिरी हिन्दू शासक भी थे। पृथ्वीराज चौहान की जयंती पर मप्र के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान समेत भाजपा नेताओं ने उनके पराक्रम को प्रणाम कर नमन किया है।    मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट कर पृथ्वीराज चौहान के अदम्य साहस और पराक्रम को याद करते हुए उन्हें श्रद्धांजलि दी है। सीएम शिवराज ने ट्वीट कर कहा है कि ‘भारतभूमि के गौरव की रक्षा के लिए मुहम्मद ग़ोरी जैसे आतताई को बार-बार युद्ध में पराजित करने वाले महान योद्धा पृथ्वीराज चौहान की जयंती पर कोटिश: नमन! 'धर्म ही ऐसा मित्र है,जो मरणोत्तर भी साथ चलता है' के मंत्र पर अंतिम सांस तक आचरण करने वाले अपने वीर सपूत पर देश को सदैव गर्व रहेगा।   भाजपा राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने अपने ट्वीट में क्षत्रिय शिरोमणि पृथ्वीराज चौहान की जयंती पर शुभकामनाएं देते हुए नमन कर कहा ‘चार बांस चौबीस गज, अंगुल अष्ट प्रमाण। ता ऊपर सुलतान है, मत चुको चौहान।। हिन्दू सम्राट क्षत्रिय शिरोमणि पृथ्वीराज चौहान जी जयंती की हार्दिक शुभकामनाएं एवं शत-शत नमन।    वरिष्ठ भाजपा नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया ने ट्वीट कर लिखा ‘वीर शिरोमणि सम्राट पृथ्वीराज चौहान जी की जयंती पर उन्हें मेरा कोटि-कोटि नमन।   भाजपा सांसद और पूर्व प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह ने पृथ्वीराज चौहान की जयंती पर शुभकामनाएं देते हुए कहा ‘चार बांस चौबीस गज, अंगुल अष्ट प्रमाण,ता ऊपर सुल्तान है, मत चूको चौहान। शब्दभेदी बाण की कला के जानकर, सनातन संस्कृति के रक्षक, वीर शिरोमणि, सम्राट पृथ्वीराज चौहान की जयंती पर हार्दिक शुभकामनाएं।    पूर्व नेता प्रतिपक्ष और वरिष्ठ भाजपा विधायक गोपाल भार्गव ने अपने ट्वीट में कहा ‘मातृभूमि की आन-बान-शान के लिए सर्वस्व न्यौछावर करने वाले वीर शिरोमणि "पृथ्वीराज चौहान" जी की जयंती पर आप सभी देश वासियों को हार्दिक शुभकामनाएँ। मातृ भूमि के लिये ऐसा जज़्बा हम सभी के भीतर भी हो।

Dakhal News

Dakhal News 19 May 2020


bhopal,MP Liquor Association, officials meet ,Home Minister ,Narottam Mishra

भोपाल। मध्य प्रदेश लिकर एसोसिएशन के पदाधिकारियों ने मंगलवार सुबह गृह, लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ नरोत्तम मिश्रा से मुलाकात की। इस दौरान लिकर एसोसिएशन के सदस्यों ने मंत्री से मिलकर अपनी समस्या को लेकर पत्र सौंपा और अपनी समस्याओं से अवगत कराया। इस पर गृहमंत्री ने लिकर एसोसिएशन के पदाधिकारियों को उचित राहत देने का आश्वासन दिया। मुलाकात के दौरान अपर मुख्य सचिव वित्त अनुराग जैन और प्रमुख सचिव वाणिज्यिक कर मनोज गोविल भी मौजूद रहे।   लिकर एसोसिएशन के पदाधिकारियों से मुलाकात के बाद मीडिया से बातचीत करते हुए स्वास्थ्य एवं गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि कोरोना की वजह से शराब की बिक्री कम हुई है। इस पर शराब कारोबारियों ने अपना पक्ष रखा है। उन्होंने कहा कि 2 माह हो गए दुकानें बंद रही है, इसलिए वे सरकार से रियायत चाहते हैं। लिकर एसोसिएशन ने मांग की है कि कोरोना के कारण दुकानें बंद होने के चलते सालाना रेवेन्यू कम किया जाए। मंत्री मिश्रा ने कहा कि एसोसिएशन की मांग पर सरकार मंथन करेगी। एसोसिएशन के पदाधिकारियों का पक्ष कैबिनेट की बैठक में रखेंगे, उसके बाद निर्णय लिया जाएगा। उल्लेखनीय है कि मध्यप्रदेश में आज से शराब दुकान खोलने की छूट मिल गई है। रेड जोन के 10 जिलों को छोडक़र सभी जिलों मेें दुकानें खोलने की छूट दी गई है। भोपाल, इंदौर, उज्जैन, बुरहानपुर, जबलपुर, खंडवा, मंदसौर, धार और देवास में शराब दुकानें नहीं खुलेंगी। भांग की दुकानें खोलने की छूट दी गई है।  

Dakhal News

Dakhal News 19 May 2020


bhopal,Former minister ,Priyavrat Singh,  90 thousand crore package , power company cheated

भोपाल। मध्यप्रदेश की पूर्ववर्ती कमलनाथ सरकार में ऊर्जा मंत्री रहे कांग्रेस के विधायक प्रियव्रत सिंह ने केंद्र सरकार द्वारा विद्युत वितरण कंपनी को 90 हजार करोड़ रुपये के पैकेज को धोखा बताया है। उन्होंने सोमवार को वीडियो प्रेस कॉन्फेंस के माध्यम से मीडिया से बात करते हुए कहा है कि केंद्र ने बिजली कंपनी को जो पैकेज देने का ऐलान किया गया है, वह धोखा है। यह राशि निजी बिजली उत्पादन, घरों व केंद्रीय क्षेत्र की बिजली उत्पादन कंपनी के बकाया को चुकाने के दी दी जा रही है, जो कि लोन पर दी जाएगी। लगता है कि उसके चलते भारी नुकसान उठा रही विद्युत वितरण कंपनी को इस पैकेज से कुछ भी हासिल नहीं होगा। लाकडॉउन के चलते डिमांड कम होने से वितरण कंपनी पर फिक्स चार्ज का खर्चा बढ़ गया है, जिसके कारण कंपनी भारी घाटे में जा रही है।पूर्व ऊर्जा मंत्री ने कहा कि विद्युत वितरण कंपनी (केंद्र शासित प्रदेशों की) का निजीकरण किया जा रहा है, जबकि विद्युत वितरण कंपनी की कार्य क्षमता बढ़ाने के लिए उन्हें अतिरिक्त संसाधन प्रदान करने की जरूरत है। क्रॉस सब्सिडी कम करने से गरीब उपभोक्ताओं को महंगी बिजली लेनी पड़ेगी। विभिन्न शासकीय विभागों पर विद्युत विभाग की करोड़ों रुपयों की राशि बकाया है, जिसे तुरंत दिया जाना चाहिए।उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश में उपभोक्ताओं के घरों की मीटर रीडिंग नहीं ली जाकर मनमानी राशि के बिल जिए जा रहे हैं, जिसके कारण 'इंदिरा गृह ज्योति योजना' का लाभ उपभोक्ताओं को नहीं मिल पा रहा है। छोटे व्यवसाय करने वाले व्यवसायिक उपभोक्ताओं की दुकानें परिसर लॉकडाउन के कारण बंद है, उन्हें मिनिमम चार्ज से राहत दी जानी चाहिए।प्रियव्रत सिंह ने कहा कि प्रदेश में लघु एवं मध्यम उद्योग भी लाकडाउन के कारण बंद हैं, जिन्हें फिक्स चार्ज से राहत दी जानी चाहिए। विद्युत वितरण कंपनी द्वारा क्षेत्र में पदस्थ अधिकारियों को लॉकडाउन के समय भी वसूली करने के लिए दबाव बनाया जा रहा है, जिसके कारण दिहाड़ी से कमाने वाले उपभोक्ताओं पर वसूली करने हेतु उन्हें परेशान किया जा रहा है।उन्होंने कहा कि राज्य में अनुकंपा नियुक्ति के लिए नीति बनाई गई थी, जिसे लागू करने के लिए कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है। आउटसोर्स कर्मियों की समस्याओं के निराकरण के लिए समिति का गठन किया गया था, उस समिति की रिपोर्ट के प्रावधानों को लागू करने हेतु कदम उठाए जाने हैं। वहीं, रखरखाव कार्य पर समुचित ध्यान नहीं दिया जा रहा है जिसके कारण विद्युत का व्यवधान बढऩे लगा है। उन्होंने कहा कि आउटसोर्स कर्मियों का 31 मार्च तक का जिन कंपनियों का टेंडर था, जो कि उक्त अवधि में समाप्त होने के पश्चात न ही नए टेंडर लगाए गए। ऐसे में कोरोना वायरस के चलते कई कर्मचारी विगत दो माह से घर बैठे हैं। उन्होंने मांग की है कि इन कर्मियों को प्रदेश सरकार द्वारा दो माह का मानदेय दिया जाए ताकि इनके परिवार का सही रूप से जीवन यापन हो सके।

Dakhal News

Dakhal News 18 May 2020


bhopal, Kamal Nath, Shivraj government,fighting Corona, by-election

भोपाल। कोरोना संकट के बीच पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व वाली भाजपा सरकार पर सोशल मीडिया के माध्यम से फिर निशाना साधा है। उन्होंने कहा है कि यह सरकार कोरोना से निपटने पर पूरी तरह विफल रही है। प्रभावित लोगों की मदद करने की बजाय पार्टी नेता अपने कार्यालयों में उपचुनाव की तैयारियों में जुटे हैं।पूर्व सीएम कमलनाथ ने सोमवार को सिलसिलेवार ट्वीट कर शिवराज सरकार पर निशाना साधा। उन्होंने कहा है कि आज आवश्यकता है कोरोना प्रभावित इलाकों में एवं प्रदेश के मार्गों व सीमाओं पर जाकर भूखे-प्यासे मजदूरों से मिलकर उनका दर्द जानने की, लेकिन सरकार के लोग जा रहे हैं अपने कार्यालय उपचुनाव की तैयारियों के लिये, चुनाव जीतने की रणनीति बनाने के लिये, लोगों का दलबदल करवाने के लिये? यह कितना शर्मनाक है।उन्होंने अगले ट्वीट में लिखा है कि - आज आवश्यकता है इस महामारी के प्रदेश में बढ़ते प्रकोप को देखते हुए केन्द्र सरकार से बात कर प्रदेश में टेस्टिंग किट की कमी दूर करने की, टेस्टिंग के लिये निजी लेब को ज्यादा से ज्यादा अनुमति दिलवाने की, वेंटिलेटर व पीपीई किट की कमी को दूर करने की, लेकिन केन्द्र सरकार और उसके मंत्रियों से इस महामारी में भी बात की जा रही है, उपचुनावों को जीतने के लिये "एक्सप्रेस वे " के भूमिपूजन की....?कमलनाथ ने तीसरे ट्वीट में लिखा है कि आज आवश्यकता है सभी को मिलकर कोरोना महामारी से लडऩे की, लेकिन तैयारियां की जा रही है चुनाव लडऩे की, इस महामारी में भी पद बांटे जा रहे हैं, जवाबदारी कोरोना से निपटने की नहीं, उपचुनाव जिताने की दी जा रही है?अगले ट्वीट में उन्होंने लिखा है कि - यह है इनकी संवेदनशीलता...? इन्हें जनसेवा नहीं, सत्ता की भूख है। इन्हें कोरोना से प्रदेशवासियों को नहीं बचाना है, इन्हें पहले खुद की सरकार को बचाना है। इनकी प्राथमिकता जनता नहीं सत्ता लोलुपता है। बेचारी जनता कोरोना से लड़ रही है और ये पद और टिकट के लिये लड़ रहे हैं....?

Dakhal News

Dakhal News 18 May 2020


bhopal, Minister Tulsi Silavat, big statement, many big leadersCongress,will join BJP

भोपाल। सत्ता में फिर से वापसी का सपना देख रही कांग्रेस को उप चुनाव से पहले एक और झटका लगा है। मंत्री तुलसी सिलावट के नेतृत्व में सांवेर से कांग्रेस के 6 नेता सोमवार को भाजपा में शामिल हो गए। इन सभी छह नेताओं को मंत्री तुलसी सिलावट आज भाजपा कार्यालय लेकर पहुंचे, जहां पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा ने उन्हें पार्टी की सदस्यता दिलाई।    कांग्रेस कार्यकर्ताओं के भाजपा में शामिल होने को लेकर मंत्री तुलसी सिलावट ने बड़ा बयान दिया है। उनका कहना है कि यह तो अभी केवल शुरूआत है। आगे भी इसी प्रकार से कांग्रेस नेताओं के भाजपा में आने का सिलसिला जारी रहेगा। मंत्री सिलावट ने दावा किया है कि कांग्रेस से भाजपा में इतने बड़े नेता आएंगे कि कोई सोच भी नहीं सकता है।   बता दें कि कांग्रेस को छोडक़र भाजपा की सदस्यता ग्रहण करने वालों में वर्तमान ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष भारत सिंह चौहान, मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी के सदस्य दिलीप चौधरी, इंदौर के पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष हुकुम सिंह सांखला, नगजी राम ठाकुर, हुकुम सिंह पटेल और इंदौर के किसान कांग्रेस  जिला अध्यक्ष एवं जनपद सदस्य ओम सेठ शामिल है।   इसके अलावा मध्यप्रदेश में लाकडाउन-4.0 लागू किये जाने को लेकर मंत्री सिलावट ने कहा है कि केन्द्र के दिशा-निर्देश के अनुसार ही प्रदेश में नये लाकडाउन का स्वरूप निर्धारित किया जाएगा। इंदौर, भोपाल सहित प्रदेश के नौ जिले रेड जोन में शामिल किये गये हैं। अन्य जिलों को लेकर भी समीक्षा की जा रही है। 

Dakhal News

Dakhal News 18 May 2020


ujjain, Two Congress MLA, arrested ,before taking out, march

उज्जैन। अपने क्षेत्र के नागरिकों की विभिन्न समस्याओं को लेकर उज्जैन से भोपाल के लिए पदयात्रा निकालने जा रहे कांग्रेस के दो विधायकों को दो दिन पूर्व उज्जैन पुलिस द्वारा गिरफ्तार किया गया था। शुक्रवार को दोनों विधायकों को जमानत मिल गई है और वे जेल से बाहर आ गये हैं।दरअसल, उज्जैन जिले के तराना से कांग्रेस विधायक महेश परमार और आलोट से कांग्रेस विधायक मनोज चावला गत 13 मई को क्षेत्र की नागरिकों की समस्याओं को लेकर राज्यपाल लालजी टण्डन को राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन देने के लिए उज्जैन से भोपाल तक पदयात्रा निकालने जा रहे थे। इस दिन वे महाकालेश्वर मंदिर पहुंचे और बाबा महाकाल के दर्शन कर पदयात्रा शुरू करने वाले थे, इससे पहले ही पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया था। साथ ही उनके समर्थक कुछ पार्टी कार्यकर्ताओं को भी गिरफ्तार किया गया था और सभी अदालत में पेश कर भैरवगढ़ केन्द्रीय जेल दिया गया था। मामले में शुक्रवार को जिला अदालत द्वारा दोनों विधायकों और उनके समर्थकों की जमानत मंजूर कर ली गई। इसके बाद उनके जेल से रिहा कर दिया गया। 

Dakhal News

Dakhal News 15 May 2020


bhopal,Congress leader, KK Mishra, political attack,BJP

भोपाल। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता केके मिश्रा ने भाजपा पर गुटबाजी के बहाने बड़ा सियासी हमला बोला है। शुक्रवार को एक बयान जारी कर उन्होंने कई सवाल उठाए हैं। उनका कहना है कि कथित तौर पर अनुशासित कही जाने वाली भाजपा के आंतरिक संघर्ष से मेरा कोई व्यक्तिगत लेना-देना नहीं है, पर जब सार्वजनिक रूप से जूतम-पैजार के साथ उनके ही प्रदेश संगठन महामंत्री के खिलाफ टिकट वितरण में लेन-देन के संगीन आरोपों के प्रामाणिक पत्राचार के रूप में हो रहे हों, तो उसे सार्वजनिक करना भी मेरा राजनैतिक धर्म है।    मिश्रा ने कहा कि हाल ही में भाजपा के जिलाध्यक्षों की नियुक्तियों ने संघ कबीले के रिमोट से संचालित होने वाली पार्टी के कथित अनुशासन, पार्टी विद-ए-डिफरेंस और वास्तविक चाल, चरित्र व चेहरे को बेनक़ाब कर दिया है। एक ओर दो दिन पहले ही सरकार के मुखिया शिवराजसिंह चौहान ने पूर्ववर्ती कमलनाथ के नेतृत्व वाली सरकार के खि़लाफ़ जांच के लिए अलग-अलग मंत्रिमंडलीय समूह गठित किया है। यहां यह बात मज़ेदार है कि इस समूह में जिन मंत्रियों का समावेश किया गया है। उन पर कांग्रेस में रहते हुए और गद्दारी करने के पूर्व उनके ही आका के चमचों ने भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप लगाए थे, क्या उन आरोपों को भी मंत्री समूह में शामिल कर जांच रिपोर्ट सार्वजनिक की जाएगी?   केके मिश्रा ने कहा कि दूसरी ओर अब भाजपा के आतंरिक संघर्ष में नया मोड़ आ गया है। ग्वालियर महानगर के लिए नियुक्त अध्यक्ष कमल माखीजानी के खिलाफ उठे स्वरों की आग ने भाजपा के प्रदेश संगठन महामंत्री सुहास भगत को झुलसा दिया है। (उल्लेखनीय है, आगामी समय में राज्य में कुल 24 निर्वाचन क्षेत्रों में उप चुनाव हैं,उसमें 16 सिर्फ सीटें ग्वालियर-चम्बल संभाग की ही हैं) । "भगत" पर उनके "भक्तों" ने ही सम्पन्न विधानसभा चुनाव में टिकट बेचने के न केवल आरोप लगाए हैं, बल्कि इस आरोपों का लिखित, हस्ताक्षरित दस्तावेज भी अपने राष्ट्रीय मुखिया जेपी नड्डा को भेजा है।    मिश्रा ने तंज कसते हुए कहा कि इन आरोपों से खिन्न पार्टी नेतृत्व ने कुछ नेताओं पर दबाव बनाकर माफीनामा लिखवाया, खेद भी व्यक्त करवाया है, मीडिया प्रभारी को इस विषयक प्रेस विज्ञप्ति भी जारी करनी पड़ी। किन्तु जिस तरह सिर फुटव्वल व टिकट बेचे जाने के संगीन आरोप वरिष्ठ पद पर काबिज व्यक्ति पर लगे हैं, उससे यह कहना प्रासंगिक होगा "जिसके खुद के घर शीशे के बने हों,उसे दूसरे के घर पत्थर नहीं फेंकना चाहिए।"   

Dakhal News

Dakhal News 15 May 2020


bhopal, Home Minister ,Narottam Mishra, targeted Congress ,appointments ,Congress government

भोपाल। मध्य प्रदेश के गृह एवं स्वास्थ्य मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कांग्रेस सरकार में हुई नियुक्तियों को लेकर कांग्रेस पर जमकर निशाना साधा है। इसके साथ ही उन्होंने वापसी कर रहे प्रवासी मजदूरों की जानकारी देते हुए कहा है कि कोरोना के साथ रहने की आदत हमें डालनी होंगी, इसका वैक्सीन नही है।    शुक्रवार को मीडिया से बातचीत करते हुए स्वास्थ्य और गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि मध्य प्रदेश में 3 लाख 21 हजार श्रमिकों को वापस लाया जा चुका है। एमपी में मजदूरों को लेकर 10 और ट्रेन आएंगी। एमपी में आ रहे श्रमिकों के लिए बसों की व्यवस्था, यूपी तक बस से की गई है। साथ ही ये भी कहा कि मजदूरों के कारण कोरोना बढ़ रहा है। वहीं मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने मनरेगा से श्रमिकों को लाभ मिलने की बात कही। नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि अभी तक 12 लाख किसानों का गेंहू खरीदा जा चुका है। इसके अलावा मनरेगा से 3 लाख श्रमिक लभंबित होंगे। वहीं कांग्रेस सरकार में हुई नियुक्तियों को लेकर नरोत्तम मिश्रा ने कांग्रेस पर जमकर निशाना साधते हुए कहा कि तत्कालीन कांग्रेस सरकार ने अल्पमत में नियुक्तियां की थी, उनकी जांच होगी।   मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि लॉक डाउन 4.0 को लेकर चर्चा हो रही है। दिल्ली को लॉक डाउन 4.0 के लिए प्रदेश का सुझाव भेजा जाएगा। भोपाल-इंदौर में लॉक डाउन बढाने का सुझाव दिया गया है। प्रदेश के ग्रीन जिलों को अंदर से खोलने की बात कही गई है।    

Dakhal News

Dakhal News 15 May 2020


bhopal, Kamal Nath, wrote letter, CM Shivraj, demanding financial assistance, priests

भोपाल। मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ लॉकडाउन के बाद से ही लगातार सीएम शिवराज को पत्र लिखकर विभिन्न मुद्दों की तरफ उनका ध्यान आकर्षित कर अपनी मांग रख रहे हैं। बुधवार को एक बार फिर कमलनाथ ने सीएम शिवराज को पत्र लिखा है। इस बार कमलनाथ ने पत्र के माध्यम से प्रदेश सरकार से मठ- मंदिरों और पुजारियों के लिए आर्थिक सहायता प्रदान करने की मांग की है।    पूर्व सीएम कमलनाथ ने पत्र में लॉकडाउन के कारण मंदिरों में आने वाले चढ़ावे बंद होने से पुजारियों को हो रही आर्थिक परेशानी का मामला उठाया है। उन्होंने लिखा है कि मध्य प्रदेश में हजारों मंदिर- मठ हैं। ये मंदिर मठ सरकार द्वारा या किसी संस्था या ट्रस्ट द्वारा या किसी समिति अथवा अन्य द्वारा संचालित किए जाते है। इन मंदिरों में प्रतिदिन की पूजा-अर्चना आदि हेतु आवश्यक प्रबंध एवं पुजारियों के जीवन यापन की व्यवस्था मंदिरों में आने वाले चढ़ावों एवं दान की राशि से होती है।    उन्होंने कहा है कि कोरोना महामारी के कारण लॉकडाउन में मंदिरों में भक्त और श्रद्धालुओं का आना प्रतिबंधित होने से चढ़ावा और दान राशि प्राप्त नहीं हो रही है और इस कारण से पुजारियों को मंदिरों की पूजा अर्चना और स्वयं के परिवार के जीवनयापन में कठिनाईयों का सामना करना पड़ रहा है। मंदिरों में भगवान की पूजा अर्चना संभव हो और पुजारियों के जीवन यापन की व्यवस्था सुव्यवस्थित रूप से चल सके, इस हेतु सरकार द्वारा आर्थिक सहायता प्रदान की जानी चाहिए।    कमलनाथ ने सीएम शिवराज से मांग करते हुए कहा है कि आपसे अनुरोध है कि इस विषप पर तत्काल संज्ञान लेते हुए प्रदेश के प्रत्येक छोटे बड़े मठ मंदिरों में पूजा अर्चना हेतू पांच हजार रुपये प्रतिमाह और पुजारियों को जीवन यापन हेतु 7500 रुपये प्रतिमाह की न्यूनतम आर्थिक सहायता आगामी तीन माह के लिए स्वीकृत कर वितरित करने का निर्णय लेने का कष्ट करें।   

Dakhal News

Dakhal News 13 May 2020


ujjain, 7 arrested, including two Congress MLA, lockdown

उज्जैन। शहर के महाकाल मंदिर के बाहर बुधवार सुबह उस समय हंगामा मच गया, जब लॉकडाउन के दौरान कांग्रेस के विधायक महेश परमार और विधायक मनोज चावला को पुलिस ने उनके समर्थकों सहित गिरफ्तार कर लिया। दोनों विधायक भाजपा सरकार की नाकामी को लेकर भोपाल तक किसान मजदूर अन्याय यात्रा निकालना चाह रहे थे। पुलिस ने हाथ-पैर पकड़कर विधायकों को गाड़ी में बिठाया।    कांग्रेस के तराना विधायक महेश परमार और आलोट विधानसभा सीट से विधायक मनोज चावला अपने पांच समर्थकों के साथ भगवान महाकाल के दर्शन कर भोपाल के लिए पैदल यात्रा निकालना चाह रहे थे, जिसकी उन्होंने अनुमति भी ली थी। कांग्रेस के विधायकों और कार्यकर्ताओं को पुलिस ने महाकाल मंदिर से आगे जाने से रोक दिया। इस बात से नाराज विधायक कार्यकर्ताओं के साथ मंदिर के सामने ही धरने पर बैठ गए। विधायकों का कहना था कि उन्होंने कोई गुनाह नहीं किया है। प्रशासन चाहे तो वह उन्हें गोली मार दे, लेकिन वह पैदल यात्रा निकाल कर ही रहेंगे। विधायकों और उनके समर्थकों की जिद को देखते हुए पुलिस- प्रशासन के आला अधिकारियों ने उन्हें समझाने की कोशिश की, लेकिन जब दोनों ही विधायक यात्रा निकालने की बात को लेकर अड़े रहे तो प्रशासन ने धारा 144 सहित कर्फ्यू के उल्लंघन की धाराओं में केस दर्ज कर सभी कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार कर केंद्रीय भेरूगढ़ जेल भेज दिया। इस बीच पुलिस ने दोनों विधायकों को चलने को कहा तो वे उठने को तैयार नहीं थे। इसके बाद पुलिस ने हाथ-पैर पकड़कर उन्हें पुलिस वैन में जबरन बिठा दिया।  

Dakhal News

Dakhal News 13 May 2020


nagda, Former Badnagar MLA , senior BJP leader, Uday Singh Pandya, dies

नागदा। उज्जैन जिले के बड़नगर विधानसभा क्षेत्र के पूर्व विधायक एवं भाजपा के वरिष्ठ नेता उदयसिंह पंड्या का बुधवार सुबह निधन हो गया। वे लगभग 84 वर्ष के थे। दिवंगत पंड्या ने किसी जमाने में भारतीय जनसंघ में अटल बिहारी वाजपेयी के साथ भी कार्य किया था। पंडया कई दिनों से अस्वस्थ थे। इन दिनों वे अपने पृतक गांव सोहड़ में थे, तब अकस्मात उनकी तबियत खराब हुई और उपचार के लिए सुबह एक निजी अस्पताल बड़नगर में लाया गया। इस दौरान उन्होंने अंतिम सांस ली।    पंडया ने तीन बार बडऩगर विधानसभा का नेतृत्व किया। आपातकाल में वे 18 माह तक जेल में रहे ओर मीसाबंदी का दर्जा मिला। जेल से आने के बाद जयप्रकाश नारायण के आव्हान पर जब सभी दल एक जुट हुए थे, तब भारतीय जनसंघ का जनता दल में विलय हो गया था। तब आपने हलघर चुनाव चिन्ह से 1977 में पहला चुनाव बडऩगर विघानसभा क्षेत्र से लड़ा था। उस समय प्रदेश के मुख्यमंत्री कैलाश जोशी बने थे। बाद में 1980 एवं 1990 में भाजपा की टिकट पर विजयी हुए और विघानसभा में पहुंचे। दिवंगत पड्या को बडऩगर से कुल 6 बार टिकट मिला था, जिसमें से 3 बार सफ ल हुए। वे एक मिलनसार एवं लोकप्रिय नेता थे। पंड्या अपने पीछे दो पुत्र एवं एक पुत्री समेत भरापूरा छोडक़र गए है।  कुछ दिनों पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दूरभाष पर उनसे बात कर कुशल क्षेम पूछी थी। अंतिम संस्कार बडऩगर से लगभग 18 किमी दूर गांव सोहड़ में होगा।

Dakhal News

Dakhal News 13 May 2020


bhopal, Kamal Nath, once again appealed , Congress leaders, help, laborers returning home

भोपाल। कोरोना वायरस की वजह से हुए लॉकडाउन के कारण देश के अलग-अलग राज्यों में फंसे मप्र के प्रवासी मजदूरों की वापसी का दौर जारी है। राज्य सरकार द्वारा मजदूरों की वापसी के लिए ट्रेने और बसें भी चलाई जा रही हैं। वहीं कई मजदूर ऐसे भी है, जो जानकारी के अभाव में पैदल ही अपने घरों के लिए निकल पड़े है। परिवार और छोटे बच्चों के साथ मजदूर व्यवस्था के अभाव में सैकड़ों- हजारों किमी का सफर भूखे प्यासे तय कर रहे है। मजदूरों की सहायता के लिए मप्र के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कांग्रेस नेताओं और कार्यकर्ताओं से आगे आने और मदद करने की अपील की है।    पूर्व सीएम कमलनाथ ने मंगलवार को एक बयान जारी कर मजदूरों के प्रति अपनी चिंता जाहिर की है। उन्होंने कहा है कि मैं एक बार फिर प्रदेश के समस्त कांग्रेसजनों, जनप्रतिनिधियों, समाजसेवी संस्थाओं, धार्मिक संगठनों से अपील करता हूँ कि प्रदेश के प्रमुख मार्ग, हमारी सीमाएँ, अपनी घर वापसी के लिये निकले हजारों मजदूर भाइयों से भरी पड़ी हुई है। कोई पैदल, कोई साईकिल पर, कोई ऑटो पर, कोई अन्य साधन से, कोई नंगे बदन, कोई नंगे पैर, अपने बच्चों, बुजुर्ग माता पिता को लिये, भूखे-प्यासे, भीषण गर्मी व लू में अपनी जान की परवाह किये बगैर अपनी मंजिल की और चला जा रहा है। प्रतिदिन इनमें से कई मौत के आगोश में समां रहे हैं।   कमलनाथ ने सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि जरूरतमंद इन मजदूरों से राह में मनमर्जी का किराया वसूला जा रहा है, इन्हें ठगा जा रहा है। ये बेबस- लाचार, असहाय मजदूर सब कुछ सहन कर रहे है क्योंकि इनकी कोई सुध लेने वाला नहीं है। इन्हें हर हाल में अपने घर पहुँचना है। क्योंकि इनके पास रोजी-रोटी का कोई साधन नहीं है। सरकार या सरकार का कोई नुमाइंदा ना इनकी सुध ले रहा है, ना इनकी मदद कर रहा है। सिर्फ़ हवा-हवाई दावे व घोषणाएँ की जा रही है। मैदान से सब नदारद है। इनकी तस्वीरें रोज सभी के सामने आ रही है लेकिन सरकार गूँगी-बहरी बनी हुई है।   कमलनाथ ने कांग्रेस नेताओं और कार्यकर्ताओं से अपील करते हुए कहा है कि आप सभी इनकी मदद करे। मैं कांग्रेस परिवार के सभी सदस्यों से भी अपील करता हूँ कि आप सभी इन मजदूर भाइयों की मदद के लिये इन प्रमुख मार्गों पर अपने वाहन लेकर निकल पड़े। भूखे- प्यासे इन मजदूर भाइयों को खाना उपलब्ध कराये। नंगे बदन व नंगे पैर सफऱ कर रहे इन मजदूरों को कपड़े, जूते- चप्पल उपलब्ध कराये। अपने- अपने वाहनों को, साधनों को इन मजदूर भाइयों के लिये प्रमुख मार्गों पर लगा दें।    अपने वाहनो में इन्हें बैठाये, इन्हें ससम्मान इनके घर तक, मंजिल तक पहुँचाये। इनकी सभी आवश्यक मदद करें। यह मानवता, इंसानियत व परोपकार का कार्य है। हमारी संस्कृति घर आये हर मेहमान के स्वागत-सत्कार की है। प्रदेश वापसी पर आये इन मजदूरों का मेहमानों की तरह सत्कार करें। इन्हें भूखा-प्यासा ना रहने दे, इनका पेट भरें। इन्हें अपने वाहनो से इनके घर तक सकुशल, सुरक्षित पहुँचाये।उल्लेखनीय है कि इससे पहले भी कमलनाथ कांग्रेस नेताओं से सडक़ पर उतरे मजदूरों की मदद की अपील कर चुके है। 

Dakhal News

Dakhal News 12 May 2020


bhopal, Ajay Singh, allegation ,increases administrative risk , administrative negligence

भोपाल। कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेता और मप्र विधानसभा के पूर्व नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह ने आरोप लगाया है कि प्रदेश में प्रशासनिक लापरवारी की वजह से कोरोना संक्रमण का खतरा बढ़ गया है। साथ ही उन्होंने ग्राम पंचायतों में क्वारेंटाइन सेंटर बनाने की मांग की है। कांग्रेस नेता अजयसिंह ने मंगलवार को मीडिया को जारी अपने बयान में सीधी जिले के ग्राम कोल्हूडीह में पाये गये करोना संक्रमित मरीज को लेकर चिंता व्यक्त करते हुए कहा है कि प्रशासनिक लापरवाही की वजह से प्रदेश में संक्रमण का खतरा बढ़ गया है। लापरवाही का इससे बड़ा उदाहरण और क्या हो सकता है कि सीधी में करोना संक्रमित मरीज अपने घर पहुंच गया और प्रशासन को खबर तक नहीं लगी।अजय सिंह ने कहा कि प्रदेश के हर जिले में हजारों की संख्या में लोग अपने अपने साधनों से सीधे घर पहुंच रहे हैं। अगर वे अपनी जांच कराना भी चाहते हैं तो प्रशासन की ओर से व्यवस्था का अभाव होने के कारण  जांच नहीं करा पा रहे हैं। प्रदेश की जागरूक जनता ने शासन के हर आदेश का पालन किया, जिसकी वजह से करोना संक्रमण अभी तक नियंत्रण में था, लेकिन प्रशासन द्वारा अपनाई जा रही घोर लापरवाही की वजह से अब खतरा बढऩे लगा है। उन्होंने कहा कि हजारों की संख्या में अब जो भी लोग जिलों में पहुंच रहे हैं, वे अधिकांश उन इलाकों से आ रहे हैं जहां करोना विकराल रूप ले चुका है। ऐसी स्थिति में प्रशासन को ब्लॉक एवं ग्राम पंचायत स्तर पर स्क्रीनिंग व कोरेंटाइन सेंटर की व्यवस्था करनी चाहिए थी। पूर्व नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि सीधी जिले के ग्राम कोल्हुडीह में पाये गये करोना संक्रमित मरीज का सीधे घर पहुंच जाना एक चिंता का विषय है। प्रशासन को इससे सबक लेना चाहिए। उन्होंने संक्रमित व्यक्ति के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना करते हुए जिला प्रशासन से मांग की है कि ग्राम पंचायत स्तर पर स्क्रीनिंग एवं कोरोंटाइन सेंटर बनाकर आने वाले प्रत्येक व्यक्ति की जांच कराएं, क्योंकि यह सम्बंधित व्यक्ति एवं उसके परिवार की सुरक्षा के लिए बेहद जरूरी है। उन्होंने प्रदेश की जनता से अपील करते हुए कहा कि सोशल डिस्टेंस का पालन करते हुए मास्क एवं अन्य रक्षा उपकरणों का जरूर प्रयोग करें।

Dakhal News

Dakhal News 12 May 2020


bhopal, Digvijay questioned Modi, Shivraj retaliated

भोपाल। कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने देश में चल रहे लॉकडाउन को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर सवाल दागा था। उन्होंने प्रधानमंत्री पर राज्यों से बातचीत न करने का आरोप लगाया था। उनके इस सवाल का जवाब देते हुए मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने दिग्विजय पर पलटवार किया है। उन्होंने कहा है कि कुछ लोग अपनी असफलता छिपाने के लिये अपना दोष दूसरों पर मढ़ देते हैं।    पूर्व मुख्यमंत्री और वरिष्ठ कांग्रेस नेता दिग्विजयसिंह ने लॉकडाउन के मुद्दे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर अकेले ही निर्णय लेने का आरोप लगाया था। उन्होंने प्रधानमंत्री पर लॉकडाउन के मुद्दे पर देश के मुख्यमंत्रियों से बात न करने का आरोप लगाते हुए जवाब मांगा था। दिग्विजय के इस सवाल का जवाब मंगलवार को प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने दिया है। उन्होंने कहा है कि कुछ लोग अपनी असफलता छिपाने के लिए अपना दोष दूसरों पर डालने का काम करते हैं।     शिवराज ने यह भी कहा कि प्रधानमंत्री ने हमेशा भारत के संविधान के मुताबिक संघीय ढांचे को प्राथमिकता दी है। शिवराज सिंह ने अपने अगले ट्वीट में कहा कि पीएम ने वैश्विक महामारी Covid_19 से लड़ने के लिए न सिर्फ़ देश का सक्षम नेतृत्व किया, बल्कि पूरे विश्व को एक नयी दिशा भी दिखाई है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री ने हर एक कदम पर पूरे भारत के सभी मुख्यमंत्रियों से लगातार बात की,  सभी राजनीतिक दलों से भी बातचीत की और फिर देश हित में उचित निर्णय लिए। 

Dakhal News

Dakhal News 12 May 2020


bhopal, Congress raised questions, appointment , Gwalior District BJP President

भोपाल। हाल ही भारतीय जनता पार्टी द्वारा ग्वालियर जिला भाजपा अध्यक्ष के पद पर की गई कमल माखीजानी की नियुक्ति को लेकर प्रदेश कांग्रेस ने सवाल उठाए हैं। कांग्रेस की ओर से पूछा गया है कि क्या भाजपा में असभ्य और असंस्कारी होना ही बड़ी योग्यता है?   भारतीय जनता पार्टी द्वारा हाल ही में प्रदेश के 24 जिलों में जिला अध्यक्षों की नियुक्ति की गई है। इसके अनुसार ग्वालियर के जिला भाजपा महामंत्री कमल माखीजानी को जिला भाजपा अध्यक्ष बनाया गया है। माखीजानी पर हाल ही में एक पुलिस अधिकारी के साथ कथित रूप से अभद्र शब्दों के प्रयोग के आरोप लगे थे। माखीजानी की नियुक्ति को लेकर प्रदेश कांग्रेस ने कहा है कि भाजपा ने एक ऐसे व्यक्ति को जिला अध्यक्ष बनाया है, जिसने दो दिन पहले एक टीआई को गाली बकी थी। पार्टी की ओर से कहा गया है कि भाजपा ने गाली बकने वाले व्यक्ति को इनाम देकर जिला अध्यक्ष बना दिया। प्रदेश कांग्रेस ने मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान से पूछा है कि क्या भारतीय जनता पार्टी में असंस्कारी और असभ्य होना ही सबसे बड़ी योग्यता है?

Dakhal News

Dakhal News 10 May 2020


bhopal, Former Bhopal MLA ,Jitendra Daga ,also turned Corona positive

भोपाल। भोपाल के हुजूर विधानसभा क्षेत्र से पूर्व विधायक जितेंद्र डागा भी कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। रविवार को उनके सेम्पल की जांच रिपोर्ट आई है, जिसमें उन्हें कोरोना संक्रमित बताया गया है। अब स्वास्थ्य विभाग का अमला उनकी कांट्रेक्ट हिस्ट्री तलाशने में जुट गई है। बताया जा रहा है कि वे कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह से भी मिले थे। गौरतलब है कि जितेन्द्र डागा पहले भाजपा में थे और हुजूर विधानसभा क्षेत्र से वे भाजपा के टिकट पर विधायक चुने गए थे, लेकिन पिछली बार उन्हें टिकट नहीं मिला था। इसलिए वे भाजपा छोड़ कांग्रेस में शामिल हो गए थे। कोरोना संकटकाल में पूर्व विधायक जितेन्द्र डागा अपने घर से 10 हजार लोगों के लिए रोज खाना बना रहे थे, जिसे भोपाल के कई क्षेत्रों में वितरित किया जा रहा है। इसी दौरान स्वास्थ्य विभाग की टीम उनके घर पहुंची थी और यहां काम कर रहे सभी लोगों के सेम्पल लेकर जांच के लिए भेजे गए थे। पूर्व विधायक जितेन्द्र डागा, उनकी पत्नी और बेटे के सेम्पल भी जांच के लिए भेजे गए थे।    रविवार को सुबह डागा की रिपोर्ट पॉजिटिव आई। इसके बाद स्वास्थ्य विभाग की टीम उनके घर पहुंची और सभी लोगों को होम क्वारेंटाइन कराया। बताया जा रहा है कि कांग्रेस में शामिल होने के बाद जितेन्द्र डागा कई बार दिग्विजय सिंह से मिले थे और उन्हीं के सहयोग से अपने घर पर प्रतिदिन 10 लोगों का खाना तैयार करवा रहे थे। फिलहाल उनके यहां चल रही रसोई को बंद करा दिया गया है। स्वास्थ्य विभाग की टीम ने पूरे इलाके को सील कर दिया और उनके घर पुलिस बल भी तैनात किया गया है।

Dakhal News

Dakhal News 10 May 2020


bhopal, Kamal Nath, raised questions ,death, five laborers , Narsinghpur,road accident

भोपाल। प्रदेश के नरसिंहपुर जिले में केले के एक ट्रक के पलट जाने से उत्तरप्रदेश लौट रहे पांच मजदूरों की मौत हो गई, जबकि कई अन्य घायल हो गए। इस हादसे को लेकर प्रदेश कांग्रेस, पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ और अन्य नेताओं ने प्रदेश सरकार पर सवाल उठाए हैं।    पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने इस हादसे में मारे गए मजदूरों के प्रति शोक संवेदना व्यक्त करते हुए कहा है कि पता नहीं अपने घर लौट रहे मजदूर भाइयों की इस तरह सड़कों पर हो रही मौतें कब रुकेंगी। पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने पूछा है कि ये मजदूर कब अपने घर सुरक्षित पहुंचेंगे? पार्टी के राज्यसभा सदस्य विवेक तन्खा ने कहा है कि इस समय मध्यप्रदेश में गरीबों पर कहर बरस रहा है और उनकी बेबसी दर्दनाक है। उन्होंने मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान से इन मजदूरों पर कृपा करने का आग्रह करते हुए कहा है कि पीड़ित परिवारों के लिए कुछ राहत राशि का प्रावधान होना चाहिए।    वहीं, प्रदेश कांग्रेस ने दुर्घटना में मजदूरों की मौत की खबर को दुखद बताते हुए मृतकों की आत्मिक शांति की कामना की है। पार्टी की ओर से ट्वीट करते हुए कहा गया है कि मध्यप्रदेश में अनहोनी का सिलसिला जारी है।    

Dakhal News

Dakhal News 10 May 2020


bhopal,  letter, Kamal Nath, Home Minister

भोपाल। लॉकडाउन के बीच भी मप्र के सियासी पारा तेज है। सत्ता में बैठी भाजपा और सत्ता गंवाने के बाद विपक्ष की जिम्मेदारी संभाल रही कांग्रेस हर मुद्दे पर एक दूसरे पर बयानबाजी करने से चूक नहीं रहे है। मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ आए दिन सीएम शिवराज को विभिन्न मुद्दों को लेकर पत्र लिख रहे है। ऐसे ही कमलनाथ द्वारा सीएम शिवराज को पत्र लिखकर उन सभी मजदूरों की सूची मांगी है जिन से घर वापसी के लिए किराया वसूला गया है। कमलनाथ ने पत्र में लिखा है कि उन मजदूरों का खर्चा कांग्रेस की प्रदेश ईकाई वहन करेगी।    कमलनाथ के इस पत्र पर मप्र के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने पलटवार किया है। गुरूवार को मीडिया से बातचीत करते हुए उन्होंने कमलनाथ को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि अब तक कांग्रेस ने मजदूरों के आने जाने का कही पैसा दिया हो तो बताए। मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने तंज कसते हुए कहा कि कमलनाथ केवल मीडिया में आने के लिए इस तरह का पत्र लिखते है। उन्हें जब मैदान में निकलना था तब नहीं गए अब क्या जायेगे।    वहीं प्रवासी मजदूरों को लेकर गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने बताया कि अब तक 1 लाख मजदूर वापस आ चुके है। चार ट्रेन मजदूरों को लेकर आ चुकी है। शनिवार को 9 ट्रेन आ रही है। अगले एक हफ्ते में दूसरे राज्यों में फंसे मजदूरों को लेकर 50 ट्रेन मध्यप्रदेश आएगी। उन्होंने कहा कि हमारी कोशिश रहेगी की हर जिले में एक ट्रेन आये, ताकि कलेक्टर को परेशान न होना पड़े। बेहतर तरीके से लोगों को सोशल डिस्टेंसिग की मदद से घर पहुँचाया जा सकें। गृहमंत्री ने बताया कि सबसे ज्यादा 23 ट्रेन गुजरात से मजदूरों को लेकर आएगी। इसके अलावा जम्मू कश्मीर के मप्र में रहने वाले 600 छात्रों को 25 बसों से भेजने की व्यवस्था की है।    कोरोना चिंता की बात है, घबराने की नही मप्र में कोरोना को लेकर बनी स्थिति पर स्वास्थ्य मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि कोरोना चिंता की बात है, घबराने की नहीं। कोई स्वस्थ व्यक्ति को कोरोना होता है और वो तीन दिन के अंदर अस्पताल पहुँचता है तो उसकी मौत नहीं होगी। सरकार के पूरे प्रबंध है, हमारी चिंता है कि मौतें कम हो। मरीज मिल भी रहे है औऱ ठीक भी हो रहे है।   

Dakhal News

Dakhal News 8 May 2020


umaria, 12  workers, died, Aurangabad train accident, Umaria district

उमरिया/भोपाल। औरंगाबाद ट्रेन हादसे में मरने वाले उमरिया जिले के मजदूरों की पहचान हो गई है। हादसे के 16 मृतकों में से 12 उमरिया जिले के निवासी हैं।    औरंगाबाद ट्रेन हादसे में 16 प्रदेश के 16 मजदूरों की मौत हो गई है, जो सभी शहडोल व उमरिया जिले के हैं। इनमें से उमरिया जिले के 12 मजदूरों की पहचान हो गई है। इन मजदूरों के नाम धर्मेंद्र सिंह (20), ब्रिजेंद्र सिंह(20), निर्बेश सिंह (20), धन सिंह (25), प्रदीप सिंह, राज भवन, शिव दयाल, नेमसहाय सिंह, मुनिम सिंह, बुधराज सिंह, अचेलाल  और रविंद्र सिंह हैं। इधर, प्रदेश सरकार ने मृत मजदूरों के शव उनके गांव लाने के प्रयास तेज कर दिए हैं। सरकार ने अफसरों की एक हाईलेवल टीम को औरंगाबाद भेजा है। वहीं, प्रदेश सरकार में मंत्री मीना सिंह ने कहा है कि वे अभी उमरिया रवाना हो रही हैं और उमरिया तथा शहडोल के सभी मजदूरों के शवों को उनके गांव लाने की व्यवस्था की जा रही है।  

Dakhal News

Dakhal News 8 May 2020


bhopal, Congress ,demands action, responsibilities,CM Shivraj

भोपाल। महाराष्ट्र के औरंगाबाद में मध्य प्रदेश के मजदूरों के साथ हुए रेल हादसे के बाद कांग्रेस ने शिवराज सरकार को घेरना शुरू कर दिया है। प्रदेश सरकार द्वारा दूसरे राज्यों में फंसे मजदूरों की वापसी के लिए वरिष्ठ अधिकारियों को जिम्मेदारी सौंपने के बाद भी हुए इतने बड़े हादसे के बाद प्रदेश के मुखिया शिवराज सिंह चौहान से जिम्मेदारों पर कार्रवाई की मांग की है।    वरिष्ठ कांग्रेस नेता और प्रदेश प्रवक्ता के के मिश्रा ने एक बयान जारी कर प्रदेश सरकार द्वारा प्रवासी मजदूरों की वापसी के लिए किए जा रहे प्रयासों पर तंज कसते हुए सीएम शिवराज सिंह चौहान से सवाल पूछा है। उन्होंने कहा है कि मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान जी,आज एक हृदय विदारक घटना व समाचार है कि महाराष्ट्र में रेल पटरी से चलकर आ रहे मध्यप्रदेश के 15 मजदूर जहां काल के ग्रास में समा गए हैं, वहीं कई घायल हैं!! सुना है प्रदेश की 7.50 करोड़ जनता आपकी भगवान है, आप उनसे बहुत प्यार भी करते हैं, आपने बड़े-बड़े अधिकारियों की फौज अन्य राज्यों से प्रवासी नागरिकों व मज़दूरों को लाने के लिए तैनात की है, तो इस हादसे व बेकसूर गरीब मौतों का जिम्मेदार कौन है? इस तैनात फ़ौज़ में मेरी विनम्र जानकारी में वरिष्ठ आईएएस दीपाली रस्तोगी के पास महाराष्ट्र व झारखंड का प्रभार है। नि:संदेह वे एक अच्छी अधिकारी हो सकती है, किंतु उनकी यह घोर लापरवाही क्या अक्षम्य है? प्रदेश के मुखिया होने के नाते क्या आप खुद भी इसकी जवाबदेही से विमुख हो सकते हैं?   कांग्रेस प्रवक्ता के के मिश्रा ने आरोप लगाते हुए कहा कि यह भी एक सच्चाई है कि मुख्यमंत्री द्वारा जितने भी अधिकारियों को इस सहित कई अन्य महती जिम्मेदारी सौंपी है, वे पीडि़त, प्रभावितों के फ़ोन ही नहीं उठा रहे हैं। इस दौर में भी वे एक आज़ाद मुल्क में अंग्रेज हुकूमत का चरित्र प्रदर्शित कर रहे हैं, क्या यह भी उचित है? लिहाज़ा, ये दर्शनीय हुंडिया किस काम की हैं, क्या कर रही हैं और इन्हें कितना सम्मान दिया जाए, आप सार्वजनिक कीजियेगा?    उन्होंने सीएम से हादसे के जिम्मेदार अधिकारियों के खिलाफ तुरंत कार्रवाई करने की मांग करते हुए कहा है कि मेरी आपसे यह भी विनम्र प्रार्थना है कि यदि 7.50 करोड़ जनता ( वास्तविक भगवान) के आप सही मायनों (राजनैतिक जुमलों में नहीं) पुजारी हैं, तो इन काल कवलित हुए बेक़सूर, गरीब मज़दूरों की अंत्येष्टि के पूर्व ही इस वीभत्स हादसे के जिम्मेदार चेहरों को बेनकाब करें, ताकि वल्लभ भवन के वातानुकुलित कमरों से कोरोना कहर को लेकर संचालित हो रही कार्यवाही की पारदर्शिता मख़ौल व मात्र खोखले प्रदर्शनों में तब्दील न हो।  

Dakhal News

Dakhal News 8 May 2020


bhopal, BJP leaders,Chief Minister Shivraj, congratulate, Buddha Purnima

भोपाल। भगवान बुद्ध का जन्म वैशाख मास की पूर्णिमा को हुआ था, इस पूर्णिमा को बुद्ध पूर्णिमा कहा जाता है। देश भर में आज गुरुवार को बुद्ध पूर्णिमा का पर्व मनाया जा रहा है। बुद्ध पूर्णिमा बौद्ध अनुयायियों के साथ-साथ हिंदुओं के लिये भी खास पर्व है। हिन्दू धर्म में गौतम बुद्ध को भगवान विष्णु का नौवां अवतार माना जाता है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज बुद्ध पूर्णिमा के अवसर पर देश को संबोधित किया। इस अवसर पर पीएम ने कहा कि हताशा और निराशा के दौर में भगवान बुद्ध की सीख और ज्यादा प्रासंगिक हो जाती है।   बुद्ध पूर्णिमा के अवसर पर मध्य प्रदेश भाजपा नेताओं ने प्रदेशवासियों को शुभकामनाएं दी है । मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट कर अपने शुभकामना संदेश में कहा है कि 'बुद्धं शरणं गच्छामि'। #BuddhPurnima की आप सभी को शुभकामनाएं। विश्व को अहिंसा, त्याग और सत्य का संदेश देकर भगवान महात्मा बुद्ध ने मानवता के कल्याण का मार्ग दिखाया है, जो हमें समाज के कमजोर वर्ग की सेवा के लिए प्रेरित करती है। आइये हम सब मिलकर इस संकल्प को साकार करें।   भाजपा प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा ने अपने शुभकामना संदेश में कहा ‘सभी को बुद्ध पूर्णिमा की हार्दिक शुभकामनाएं’।   भाजपा राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने बुद्ध पूर्णिमा पर ट्वीट कर लिखा ‘प्रज्ञा...शील...करुणा... !!! बुद्धपूर्णिमा के पावन पर्व की सभी देशवासियों को हार्दिक बधाई ... बुद्धम शरणम गच्छामि।    भाजपा सांसद और पूर्व प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह ने ट्वीट कर शुभकामना संदेश में लिखा ‘बुद्ध पूर्णिमा 2020 की हार्दिक शुभकामनाएं। हमें गर्व होना चाहिए कि भारत करुणा, सेवा और त्याग की शक्ति दिखाने वाले भगवान बुद्ध की धरती है।   भाजपा नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया ने ट्वीट कर शुभकामना दी है। उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा ‘समस्त देशवासियों को बुद्ध पूर्णिमा की हार्दिक शुभकामनाएं।  

Dakhal News

Dakhal News 7 May 2020


bhopal, Jeetu Patwari ,wrote letter , CM, fearing manipulation, health bulletin figures

भोपाल। पूर्व मंत्री और कांग्रेस मीडिया विभाग के अध्यक्ष जीतू पटवारी ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को पत्र लिखा है। पत्र के माध्यम से जीतू पटवारी ने कोरोना को लेकर जारी होने वाले हेल्थ बुलेटिन के आंकड़ों में हेरफेर होने का अंदेशा जताया है।    पूर्व मंत्री जीतू पटवारी ने गुरुवार को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह को पत्र लिखकर कोरोना को लेकर जारी होने वाले हेल्थ बुलेटिन के आंकड़ों में हेरफेर होने का अंदेशा जताया है। उन्होंने सरकार से मांग की है कि कोरोना को लेकर प्रदेश और जिला स्तर पर अलग अलग आंकड़े एकत्रित किये जायें। इसके अलावा जीतू पटवारी ने सीएम शिवराज से यह भी मांग की है कि गलत आंकड़े देने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाए, आंकड़ों को लेकर पारदर्शिता बरती जाए ताकि कोई भी उनका अध्ययन कर सके।   

Dakhal News

Dakhal News 7 May 2020


bhopal, dewas, Former BJP MLA ,Champalal Deora ,dies from Bagli

भोपाल/देवास। देवास जिले के बागली विधानसभा क्षेत्र से भाजपा के पूर्व विधायक चंपालाल देवड़ा का गुरुवार को सुबह भोपाल में निधन हो गया। वे लम्बे समय से कैंसर की बीमारी से जूझ रहे थे और उनका यहां सिल्वर लाइन हॉस्टिपल में उपचार चल रहा था, जहां सुबह 8.10 बजे उन्होंने अंतिम सांस ली। बताया जा रहा है कि परिजन उनके शव को लेकर उनके गृहग्राम इमलीपुरा उड़ायनगर लेकर रवाना हो गए हैं, जहां उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा। कोरोना वायरस के संक्रमण को देखते हुए पूर्व विधायक चम्पालाल देवड़ा का निधन के बाद भोपाल कलेक्टर तरुण पिथौड़े ने पहले तो उनके पार्थिव शरीर को बागली ले जाने से इनकार कर दिया था, लेकिन पूर्व मंत्री दीपक जोशी ने सीएम शिवराज सिंह चौहान से बात की, जिसके बाद उनका पार्थिव शरीर ईमलीपुरा उदयनगर के लिए रवाना किया गया। पूर्व मंत्री दीपक जोशी ने बताया कि पूर्व विधायक चंपालाल देवड़ा का अंतिम संस्कार उनके गांव इमलीपुरा उड़ायनगर में ही किया जाएगा, क्योंकि उनका निधन कैंसर से हुआ है। गौरतलब है कि चम्पालाल देवड़ा शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व वाली भाजपा की पिछली दो सरकारों में बागली से विधायक रहे हैं। वे पहली बार 2008 में चुनकर विधानसभा पहुंचे थे और फिर 2013 में दूसरी बार विधायक बने और 2018 तक विधानसभा के सदस्य रहे। इसी दौरान वे कैंसर की बीमारी से पीडि़त हो गए। बीमारी के चलते 2018 के चुनाव में उन्हें तीसरी बार टिकट नहीं मिल पाई। कैंसरकी बीमारी से संघर्ष करते हुए उन्होंने गुरुवार को सुबह अंतिम सांस ली। उनके निधन से अंचल में शोक की लहर है।

Dakhal News

Dakhal News 7 May 2020


bhopal, Ajay Singh, raised questions,death , infected patient,Gujarat

भोपाल। मध्यप्रदेश के सतना में गुजरात से आए एक कोरोना संक्रमित मरीज के मौत के मामले में मप्र विधानसभा के पूर्व नेता प्रतिपक्ष और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अजय सिंह ने सवाल उठाते हुए सरकार से मामले की जांच की मांग की है। उन्होंने मंगलवार को मीडिया को जारी अपने बयान में कहा है कि करोना संक्रमित मरीज को सतना लाकर बिना जांच आइसोलेशन में भर्ती कर दिया और फिर अचानक ही उसकी मौत हो गई। इस मामले की जांच होनी चाहिए। कांग्रेस नेता अजय सिंह ने कहा कि जब अच्छे-खासे स्वस्थ लोग एक-एक पास के लिये मोहताज हो रहे हैं, ऐसे में एक करोना संक्रमित मरीज को बिना राजनैतिक हस्तक्षेप के पास मिलना मुमकिन नहीं है। यह कैसे संभव है कि जो मरीज संक्रमण की वजह से जीवन के आखिरी स्टेज में हो और उसकी रिपोर्ट निगेटिव निकल आये? उन्होंने दावा करते हुए कहा कि सत्ताधारी दल के एक नेता के हस्तक्षेप से न केवल रिपोर्ट को बदला गया, बल्कि उसे सतना के लिये पार्सल भी किया गया? उन्होंने कहा कि भाजपा के उस नेता के रसूख के चलते जिले की पूरी आबादी को कोरोना की आग में झोंक दिया गया।पूर्व नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि जिला अस्पताल प्रबंधन ने आखिर किसके दबाब के चलते प्रोटोकॉल का उल्लंघन कर कोरोना संक्रमित मरीज को आईसीयू वार्ड में दाखिल किया, साथ ही उसके परिजनों को मिलने सहित बाहर से दवा, चाय और खाने की अनुमति दी गयी। अस्पताल प्रबंधन की इस बड़ी चूक के चलते डॉक्टर, नर्स, विभाग के अन्य कर्मचारियों सहित कई लोगों पर संक्रमण का जो खतरा बढ़ा है, उसकी जिम्मेदारी तय होनी चाहिये। अजय सिंह ने प्रदेश के मुख्यमंत्री एवं गुजरात के मुख्यमंत्री से इस पूरे मामले की जांच की मांग करते हुए कहा कि आखिर किसके दबाब में करोना पॉजीटिव को निगेटिव मरीज बताकर सतना भेजा गया? अब तक पूरी तरह सुरक्षित एवं ग्रीन जोन में शामिल सतना की 30 लाख आबादी की जान को जोखिम में डालने वाला असली गुनाहगार कौन है?

Dakhal News

Dakhal News 5 May 2020


gwalior,  Kamal Nath government, big statement , former minister

ग्वालियर। भाजपा में शामिल हुए कमलनाथ सरकार के पूर्व मंत्री और सिंधिया समर्थक नेता प्रद्युम्न सिंह तोमर ने कमलनाथ सरकार के गिरने को लेकर बड़ा बयान दिया है। उन्होंने सरकार गिरने का सबसे बड़ा कारण भेदभाव को बताया है। इसके अलावा उपचुनाव को लेकर उन्होंने तंज कसते हुृए कहा है कि जो जैसा बोएगा, वही काटेगा।    पूर्व मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर ने मंगलवार को मीडिया के सामने कमलनाथ सरकार के गिरने पर खुलकर बयान दिया। उन्होंने कहा कि कमलनाथ सरकार गिरने का मुद्दा गंभीर है। कई मुद्दों पर काम नहीं हो रहा था। चंबल में उद्योग नहीं आ रहे थे। उन्होंने कहा कि भिंड, मुरैना, ग्वालियर के युवाओं को रोजगार नहीं मिलने से पलायन हो रहा था। उन्होंने कहा कि हम छिंदवाड़ा के विरोधी नहीं हैं, लेकिन 1,500, 1,200 करोड़ रूपए का बजट छिंदवाड़ा को मिल रहा था, लेकिन हमारे चंबल को कुछ भी नहीं।    इसके अलावा उपचुनाव को लेकर भी प्रद्युमन सिंह खुलकर बोले। उन्होंने कहा कि जो बोया, वो काटेंगे। अच्छा बोया है, तो अच्छा काटेंगे। गेहूं बोया है, तो गेहूं। कांटे बोये है, तो कांटे मिलेंगे। हम कुर्सी के लिए नहीं बल्कि जनता की सेवा के लिए आएं थे। जनता के लिए कुर्सी तक छोड़ दी। वहीं शिवराज सरकार के मंत्रिमंडल विस्तार को लेकर उन्होंने कहा कि पार्टी जो निर्णय लेगी वो स्वीकर होगा। जनता की सेवा करने के लिए आए हुए हैं वो कर रहे हैं। मंत्रिमंडल विस्तार में अच्छे लोग जुड़ेंगे।  

Dakhal News

Dakhal News 5 May 2020


bhopal, Congress MLA ,Kunal Choudhary,  government questions , relaunch , Sambal scheme

भोपाल। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा संबल योजना को दोबारा शुरू किए जाने पर कांग्रेस के हमले तेज हो गए हैं। पूर्व मंत्री पीसी शर्मा के बाद अब युवक कांग्रेस अध्यक्ष और कालापीपल विधायक कुणाल चौधरी ने संबल योजना को दोबारा शुरू किए जाने पर सवाल उठाए हैं।    कांग्रेस विधायक चौधरी ने मंगलवार को एक बयान जारी कर सीएम शिवराज सिंह चौहान पर निशाना साधते हुए सवाल पूछे हैं। उन्होंने कहा है कि सीएम शिवराज सिंह चौहान अपनी विफलता का प्रतीक रही "संबल योजना" को पुन: लॉंच कर रहे हैं। पिछली बार संबल योजना चालू हुई थी तो इसमें भारी भ्रष्टाचार हुआ था। संबल योजना में कई अपात्र लोग भी शामिल थे, जिन्होंने इस योजना के पात्र लोगों के हक पर डाका डालकर भ्रष्टाचार किया था। उन्होंने कहा है कि अगर अधूरी तैयारी के साथ योजना आई तो फिर से भ्रष्टाचार होगा। इसके साथ ही कुणाल चौधरी ने सीएम शिवराज से प्रश्न पूछा है कि क्या पिछली बार जो अपात्र लोग इस योजना का लाभ ले रहे थे, उन्हें हटा दिया गया है। आपने उन लोगों पर क्या कार्रवाई की है, जिन्होंने गरीबों के हक पर डाका डालने का काम किया। इसके अलावा कुणाल चौधरी ने सीएम शिवराज से यह भी सवाल किया है कि क्या कमलनाथ सरकार ने 100 रुपये यूनिट के हिसाब से बिजली बिल भरना होता था तो क्या आप भी इसे लागू करेंगे या सिर्फ संबल योजना के लोगों को इसका लाभ मिलेगा। 

Dakhal News

Dakhal News 5 May 2020


bhopal, CM Shivraj Singh, tribute , death anniversary , Pramod Mahajan

भोपाल। लोकप्रिय जननेता और राजनीति के चाणक्य कहे जाने वाले भाजपा नेता प्रमोद महाजन की आज रविवार को 14वीं पुण्यतिथि है। प्रमोद महाजन को उनके सगे भाई ने गोली मारी थी। 13 दिनों तक जिंदगी और मौत से जूझने के बाद 3 मई 2006 को उनका निधन हो गया था। प्रमोद महाजन भारतीय जनता पार्टी के कद्दावर नेता थे। प्रमोद महाजन की पुण्यतिथि पर मप्र के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने उन्हें श्रद्धांजलि देते हुए नमन किया है।    मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट कर प्रमोद महाजन की पुण्यतिथि पर याद करते हुए उन्हें श्रद्धांजलि दी है। उन्होंने ट्वीट कर लिखा ‘असंभव कार्यों को हंसते-मुस्कुराते पूर्ण कर देने वाले लोकप्रिय जननेता स्व. #PramodMahajan जी की पुण्यतिथि पर विनम्र श्रद्धांजलि! जनसेवा और राष्ट्र उत्थान के कार्यों हेतु सदैव तत्पर रहने वाले आप जैसे दृढ़ निश्चयी व संकल्पवान साथी को असमय खोने का दु:ख सदैव रहेगा। आप सदा याद आयेंगे।   भाजपा राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने अपने ट्वीट में लिखा ‘विनम्र श्रद्धांजलि !!! पूर्व केन्द्रीय मंत्री, कुशल राजनीतिज्ञ, अद्भुत संगठनकर्ता, प्रखर वक्ता और जीवन भर जनसेवा के लिए समर्पित रहे स्वर्गीय श्री प्रमोद महाजन जी को भावपूर्ण श्रद्धांजलि’। 

Dakhal News

Dakhal News 3 May 2020


ujjain, FIR ,eight including MLA, sitting dharna ,over problems , farmers, lockdown

उज्जैन। मध्यप्रदेश में कोरोना संकट के बीच भाजपा और कांग्रेस के बीच सियासी संग्राम जारी है। प्रदेश में कोरोना से बचाव के लिए लॉकडाउन लागू है। ऐसे में उज्जैन में कांग्रेस विधायक महेश परमार अपने समर्थकों के साथ शनिवार को किसानों की समस्याओं को लेकर धरने पर बैठ गए थे। इस मामले में भाजपा की शिकायत पर उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है। विधायक परमार समेत आठ नेताओं के खिलाफ उज्जैन के माधवनगर थाना पुलिस ने रविवार को धारा 188 के तहत प्रकरण दर्ज किया है।उज्जैन के तराना विधानसभा क्षेत्र से कांग्रेस विधायक महेश परमार अपने समर्थकों के साथ शनिवार को किसानों की समस्याओं को लेकर कलेक्टर कार्यालय कोठी पैलेस के सामने धरने पर बैठे थे। हालांकि, धरने पर बैठे सभी कांग्रेसी मास्क लगाये थे और सैनिटाइजर की बॉटल साथ लेकर एक-दूसरे से दूरी बनाकर बैठे रहे। पास ही पुलिसकर्मी भी तैनात थे। विधायक परमार का आरोप था कि लॉकडाउन के चलते किसान अपनी फसलें नहीं बेच पा रहे हैं। उन्हें कई तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। विधायक ने प्रशासन पर कोरोना संक्रमण को रोकने में नाकाम रहने का आरोप भी लगाया और चेतावनी देते हुए कहा कि जब तक शासन और प्रशासन का कोई नुमाइंदा उनकी मांगों को लेकर उन्हें संतोषप्रद जवाब नहीं देगा, तब तक वह धरना जारी रहेगा। हालांकि, शाम को उन्होंने धरना समाप्त कर दिया था, लेकिन भाजपा ने इस धरने पर आपत्ति जताते हुए कलेक्टर-एसएसपी से शिकायत की। भाजपा की आपत्ति के बाद रविवार को माधवनगर थाना पुलिस ने विधायक महेश परमार सहित आठ कांग्रेस नेताओं के खिलाफ धारा 188 के तहत एफआईआर दर्ज की है। पुलिस ने बताया कि विधायक परमार के अलावा शहर कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष महेश सोनी, जिला ग्रामीण अध्यक्ष कमल पटेल, पूर्व विधायक डॉ. बटुक शंकर जोशी, बीनू कुशवाह, सोनू शर्मा, लालचंद भारती और सुरेंद्र मरमट के खिलाफ प्रकरण दर्ज कर मामले की जांच की जा रही है।

Dakhal News

Dakhal News 3 May 2020


bhopal, Congress targeted, lockdown period, liquor shops, Red Zone

भोपाल। कोरोना वायरस के खिलाफ जारी लॉकडाउन बीच बंद शराब की दुकानों को कुछ शर्तों के साथ खोलने की अनुमति मिल गई है। इस संबंध में केन्द्र सरकार की स्वीकृति मिलने के बाद मध्य प्रदेश वाणिज्यकर विभाग ने कुछ शर्तों के साथ देशी और अंग्रेजी शराब दुकानें खोलने के आदेश जारी किये हैं। ये दुकानें 4 मई से प्रदेशभर में खोली जाएंगी। इस समय मप्र में कोरोना के हालात खराब है। प्रदेश के 9 जिले रेड जोन में है। ऐसे में लॉकडाउन की अवधि एवं रेड जोन में शराब की दुकाने खोले जाने को लेकर कांग्रेस ने सरकार पर निशाना साधा है।    वरिष्ठ कांग्रेस नेता और पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अरुण यादव ने लॉकडाउन की अवधि एवं रेड जोन में शराब की दुकाने खोले जाने को लेकर ट्वीट करके शिवराज सिंह को घेरा है और तंज कसते हुए कहा है कि सरकार को किसानों से ज्यादा शराब प्रेमियों एवं राजस्व की चिंता है। अरुण यादव ने ट्वीट कर कहा है कि शिवराज जी, सभी चाहते हैं कोरोना - प्रकोप से देश-प्रदेश को मुक्ति मिले, आमजन पुन: खुशहाल जीवन प्रारम्भ करे, अफ़सोस है कि अब "रेड ज़ोन" में भी शराब की दुकानें खोलने की प्रक्रिया आरम्भ होने जा रही है, ताकि राजस्व हानि न हो,यह दु:खद होगा! एक अन्य ट्वीट कर अरुण यादव ने कहा है कि "एक ओर किसानों को खाद-बीज कैसे उपलब्ध हो, इस पर विचार नहीं और शराब हमारी प्राथमिकता ? "यह दयनीय सोच सिवाय" वैचारिक दरिद्रता के कुछ भी नहीं "!!

Dakhal News

Dakhal News 3 May 2020


bhopal, Former Minister ,wrote letter , CM, issue appointment letter ,guest scholars

भोपाल। मध्यप्रदेश में कोरोना संकटकाल में मुख्य विपक्षी पार्टी कांग्रेस के नेता प्रतिदिन मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को पत्र लिखकर आमजन से जुड़े मुद्दे उठाते हुए विभिन्न मांग कर रहे हैं। इसी क्रम में पूर्ववर्ती कमलनाथ सरकार में उच्च शिक्षा मंत्री रहे कांग्रेस विधायक जीतू पटवारी ने शुक्रवार को फिर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को एक पत्र लिखा है, जिसमें उन्होंने अतिथि विद्वानों को नियुक्ति पत्र जारी करने की मांग की है। इसके साथ ही उन्होंने कहा है कि अतिथि विद्वानों को मार्च माह का वेतन भी दिया जाए।पूर्व मंत्री और मप्र कांग्रेस कमेटी के मीडिया विभाग के अध्यक्ष जीतू पटवारी ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को लिखे पत्र में कहा है कि एमपीपीएससी द्वारा प्रदेश के कॉलेजों में असिस्टेंट प्रोफेसरों की नियुक्ति करने के बाद अतिथि विद्वानों के सामने रोजगार का संकट आ गया था, लेकिन कमलनाथ सरकार द्वारा अतिथि विद्वानों के 1819 पद तय किये गये थे।  इन सभी पदों के लिए ऑनलाइन चॉइस फिलिंग प्रक्रिया 9 मार्च तक पूरी कर ली गई थी। इसके बाद भी सरकार द्वारा अतिथि विद्वान को नियुक्ति पत्र जारी नहीं किया गया है। उन्होंने मांग की है कि जल्द से जल्द अतिथि विद्वान को नियुक्ति पत्र जारी किया जाए। साथ ही उन्होंने नियुक्ति पत्र के साथ अतिथि विद्वानों को मार्च माह का वेतन देने की मांग भी राज्य सरकार से की है।

Dakhal News

Dakhal News 1 May 2020


bhopal, Kamal Nath , targeted Shivraj, Betul gang rape case

भोपाल। मध्यप्रदेश में गत दिवस बैतूल जिले में एक युवती के साथ हुई गैंगरेप की घटना को लेकर पूर्व मुख्यमंत्री और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान पर निशाना साधा है। उन्होंने दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग करते कहा है कि शिवराज जी, एक माह में ही आपकी उस पुरानी सरकार का वह पुराना युग वापस लौट रहा है, जिसमें बहन-बेटियां, किसान कोई भी सुरक्षित नहीं थे।पूर्व सीएम कमलनाथ ने शुक्रवार को ट्वीट के माध्यम से शिवराज सिंह चौहान सरकार को आड़े हाथों लिया। कोरोना महमारी के लॉकडाउन में भी प्रदेश में प्रतिदिन अपराध घटित हो रहे हैं। लॉकडाउन में भी गैंगरेप, बलात्कार, हत्या, चोरी, किसानों से मारपीट की घटनाएं जारी हैं। पूर्व में इंदौर, भोपाल, ग्वालियर, दमोह की घटना के बाद अब लॉकडाउन में बैतूल जिले के पाढर क्षेत्र में एक युवती के साथ घटित गैंगरेप की घटना ने प्रदेश को कलंकित व शर्मशार किया है। इस घटना के दोषियों पर कड़ी कार्रवाई हो और पीडि़त परिवार की सुरक्षा से लेकर हरसंभव मदद की जाए।उन्होंने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह पर निशाना साधते हुए ट्वीट किया है कि -शिवराज जी, आपकी एक माह की सरकार प्रदेश को किस और ले जा रही है? आपकी पूर्व की सरकार के समय का वो पुराना युग वापस लौट रहा है, जिसमें बहन-बेटियां, किसान कोई भी सुरक्षित नहीं थे।गौरतलब है कि बुधवार-गुरुवार की रात बैतूल जिले के कोतवाली थाना क्षेत्र अंतर्गत ग्राम पाढर में सात बदमाशों ने एक युवती के साथ गैंगरेप की वारदात को अंजाम दिया था। इस मामले में पुलिस ने पांच आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया है, जबकि दो अभी भी फरार हैं। पकड़े गए आरोपितों में तीन नाबालिग हैं। पुलिस मामले की जांच में जुटी है।

Dakhal News

Dakhal News 1 May 2020


bhopal,Home Minister , Labor Day,  labor showing ,patience and restraint.

भोपाल। अंतरराष्ट्रीय श्रमिक दिवस पर मप्र के गृह एवं स्वास्थ्य मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने समस्त श्रमिक समाज को शुभकामनाएं  दी हैं। उनका कहना है कि वास्तव में आज देश में जिस तरह की स्थिति है और हमारा श्रमिक धैर्य और संयम का परिचय दे रहा है, इसलिए वह वंदनीय की श्रेणी में आया है।    मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने शुक्रवार को मीडिया से बातचीत करते हुए श्रमिक दिवस पर कहा कि लॉकडाउन के कारण श्रमिकों को कई किमी पैदल चलना पड़ा लेकिन उसने कही भी संयम नही खोया। यह मजदूर का श्रम के बाद संयम एक दूसरी भाषा परिभाषित की है।    उन्होंने बताया कि लॉकडाउन के कारण हमारे प्रदेश में लगातार बाहर जो श्रमिक है उनको लाने की कोशिश हो रही है। अभी तक 35 हजार के लगभग प्रवासी श्रमिक हम जिले में ला चुके  है और दूसरे जिलों में भी 20 हजार के लगभग भेज चुके है।    मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने बताया कि 8 लाख 71 हजार मजदूरों को मनरेगा के तहत मप्र में काम दे दिया है, यहां पर छोटे उद्योग और काम धंधे फिर से शुरू हो गए है। उन्होंने बताया कि मंडी के अंदर जो हमारी ऐतिहासिक 28 लाख मेट्रिक टन से ज्यादा खरीदी करके वहां भी मजदूरों को काम देकर राहत दी है। कल ही राजस्थान से 11 हजार मजदूर प्रदेश में अपने घर लौटे है। मजदूरों के खाते में भी जो एक हजार रुपए जाना था वह सीएम के द्वारा डलवा दिया गया है। 

Dakhal News

Dakhal News 1 May 2020


bhopal, Vegetable-producing farmers ,allowed interstate transportation ,Annadata Shakti Sangathan

छिंदवाड़ा। मध्यप्रदेश में अन्नदाता शक्ति संगठन ने सोमवार को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के नाम जिला प्रशासन को एक ज्ञापन सौंपकर सब्जी उत्पादक किसानों को अंतरराज्यीय परिवहन की अनुमति देने की मांग की है। संगठन के अध्यक्ष आनंद बक्षी ने बताया कि कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए लागू लॉकडाउन के चलते सब्जी उत्पादक किसान की कमर टूट गई है। उन्होंने कहा कि छिंदवाड़ा जिला सब्जी उत्पादन का बहुत बड़ा केंद्र है। यहां हजारों सब्जी उत्पादक किसान लागत मूल्य भी नहीं निकल पाने के कारण सब्जियां खेतों में ही नष्ट कर दे रहे हैं। उन्होंने संगठन के माध्यम से सोमवार को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के नाम जिला प्रशासन को एक ज्ञापन सौंपा है, जिसमें मांग की गई है कि सब्जियों के अंतरराज्यीय परिवहन को पुन: अनुमति प्रदान की जाए। ज्ञापन में कहा गया है कि जिस प्रकार सरकार रबी फसलों का उपार्जन कर रही है, उसी तरह सब्जी उत्पादन वाले गांव तथा क्षेत्रों को चिन्हित कर सब्जी उपार्जन केंद्र खोले जाए। स्थानीय सब्जी मंडी व्यपारियों के जरिये इन उपार्जन केंद्रों पर खरीदी की जाए। उन्होंने कहा कि लॉकडाउन के चलते सब्जी उत्पादक किसान सब्जियों को मंडी तक नहीं ला पा रहा है तथा इसमें अत्यधिक परिवहन व्यय भी हो रहा है। सब्जी उपार्जन केंद्र खोलने से किसान अपने गांव में ही सब्जी का विक्रय कर सकेगा।ज्ञापन सौंपने वालों में संगठन के कुशल पहाड़े, गुड्डू डहाके, छोटेलाल कुशवाह, मुन्नालाल मंडराह, प्रदीप कस्तूरे, श्यामराव चरपे, सकलु धुर्वे, रामराव कराडे, शिवाजी राउत, बंटी उसरेठे एवं गोविंद ओक्टे शामिल रहे। 

Dakhal News

Dakhal News 27 April 2020


bhopal, Kamal Nath, warns , road against ,atrocities on farmers

भोपाल। सत्ता गंवाने के बाद एक बार फिर कांग्रेस प्रदेश की भाजपा सरकार पर हमलावर हो गई है। इस समय जब सरकार का पूरा ध्यान कोरोना के खिलाफ लड़ाई में लगा हुआ है ऐसे में कांग्रेस सरकार को घेरने का मौका नहीं छोड़ रही है। कांग्रेस किसानों को मुद्दा बनाकर सरकार पर लगातार हमले बोल रही है।    मप्र के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने श्योपुर जिले में तहसीलदार द्वारा गेहूं बेचने गए किसान से मारपीट का मामले में सरकार से डंडे बरसाने वाले अधिकारियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की मांग की है। साथ ही साथ कमलनाथ ने उचित कार्रवाई नहीं किए जाने पर सरकार को सडक़ पर उतरने की चेतावनी भी दी है।    श्योपुर जिले में तहसीलदार द्वारा गेहूं बेचने गए किसान से मारपीट के मामले ने राजनीतिक तूल पकड़ लिया है। पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने ट्वीट कर मामले को गंभीर बताते हुए सरकार पर किसानों के साथ अन्याय करने का आरोप लगाया है। कमलनाथ ने ट्वीट कर लिखा ‘शिवराज जी आपकी 1 माह की सरकार में ही प्रदेश में किसानो का दमन प्रारंभ हो गया है। आपकी पूर्व की सरकार में अपना हक़ माँग रहे निर्दोष किसानो के सीने पर किस प्रकार गोलियाँ दागी गयी, उनके कपड़े उतारकर उन्हें थानों में बंद किया गया, उनका किस प्रकार दमन किया ,यह पूरे प्रदेश ने देखा हैं। वही इतिहास आपकी वर्तमान सरकार के 1 माह में ही दोहराने का काम फिर से किया जा रहा है। पूर्व में जबलपुर में एक किसान की पुलिस पिटाई से हुई मौत की घटना और अब श्योपुर जिले के सलमान्या सायलो गेहूँ खऱीदी केन्द्र पर अन्नदाता किसानों पर अधिकारियों द्वारा बेरहमी से लाठीचार्ज व दमन की घटना।    कमलनाथ ने एक अन्य ट्वीट कर कार्रवाई नहीं किए जाने पर सडक़ पर उतरने की चेतावनी देते हुए कहा है कि ‘कांग्रेस किसान भाइयों का दमन बर्दाश्त नहीं करेगी व सडक़ से सदन तक इसके विरोध में लड़ाई लड़ेगी। श्योपुर घटना के दोषी अधिकारियों पर अविलंब कड़ी से कड़ी कार्यवाही हो, घायल किसान का समुचित इलाज सरकार कराये, खरीदी केंद्रो पर अव्यवस्था तत्काल दूर की जाये,कांग्रेस आपसे यह माँग करती है। 

Dakhal News

Dakhal News 27 April 2020


bhopal, Former cabinet minister, Jeetu Patwari, statement, government mobilized

भोपाल। मध्य प्रदेश में कोरोना से दिनों हालात खराब होते जा रहे है। प्रदेश में अब तक कोरोना के कुल 2135 पॉजिटिव मरीज सामने आ चुके है जबकि 106 लोगों की इस संक्रमण से मौत हो चुकी है। प्रदेश की आर्थिक राजधानी इंदौर में कोरोना के सबसे ज्यादा 1207 पॉजिटिव मरी है। वहीं इस वायरस से इंदौर में 60 लोग अपनी जान गवां चुके है। इंदौर में बिगड़ते हालातों को देखते हुए पूर्व मंत्री और कांग्रेस विधायक जीतू पटवारी ने सीएम शिवराज सिंह इंदौर को इंदौर में अपना हेड क्वार्टर बनाने की मांग की है साथ ही कोरोना वायरस के लिए सरकार संसाधन जुटाए ।    जीतू पटवारी ने सोमवार को अपने बयान में कहा है कि इंदौर में 21 प्रतिशत की दर से कोरोना  शहर में फैल रहा है। इसके अलावा  8 हजार रिपोर्ट पेंडिंग है और टेस्ट किट वगैरह भी समाप्त हो गए है। उन्होंने कहा कि मैं बार बार यह आगाह करता था कि मप्र के मुख्यमंत्री को इंदौर में अपना केन्द्र बनाना चाहिए। आज हमारी स्थिति चाईना के वुहान शहर से भी ज्यादा बदतर हो गई है, जिससे इंदौर में कोरोना पॉजिटिव मरीजों की बढ़ती संख्या बड़ी चुनौती बन गई है।    मुख्यमंत्री शिवराज पर निशाना साधते हुए जीतू पटवारी ने कहा कि प्रदेश के मुख्यमंत्री खुद को जनसंपर्क के विज्ञापन के माध्यम से व्यस्त बताने की कोशिश कर रहे है, लेकिन व्यस्तता से आप कोरोना की जंग नहीं जीत सकते। मुख्यमंत्री शिवराज इंदौर की स्थिति को गम्भीरता से लें। उन्होंने कहा कि मैंने आपसे आग्रह किया कि जीतने ज्यादा से ज्यादा टेस्ट हो इंदौर में कराई जाए और टेस्ट रिपोर्ट सही समय पर आए ताकि पेंडिंग न हो जिससे हम लड़ाई जीत सके। जीतू पटवारी ने मांग करते हुए कहा कि मेरा फिर से आपसे आग्रह है कि आप इंदौर को अपना हेडक्वार्टर बनाए। इसके अलावा जितने टेस्ट है वह ज्यादा से ज्यादा हो और जल्द समय से उनकी रिपोर्ट आए ।   

Dakhal News

Dakhal News 27 April 2020


bhopal, Congress condemns, FIR , Jhabua MLA Kantilal Bhuria

भोपाल। पूर्व केंद्रीय मंत्री, पूर्व कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष, पूर्व सांसद और वर्तमान झाबुआ विधायक कांतिलाल भूरिया पर गुजरात महाराष्ट्र समेत अन्य राज्यों में फंसे प्रदेश के आदिवासी मजदूरों को सुरक्षित उनके घर वापसी को लेकर धरना प्रदर्शन करने पर उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज किए जाने की कांग्रेस ने निंदा की है और सरकार पर आरोप लगाए है।    प्रदेश कांग्रेस ने प्रदेश सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा है कि कांग्रेस झाबुआ विधायक कांतिलाल भूरिया द्वारा झाबुआ के हजारों प्रवासी मजदूरों की समस्याओं के संबंध में जब ज्ञापन दिया गया तो सरकार की एक हजार रुपये भेजने की योजना के बावजूद सुनवाई करने से मना कर दिया। तब भूख से मरते गरीबों की आवाज उठाने के लिये सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए विधायक कांतिलाल भूरिया समेत तीन लोग धरने पर बैठ गये। जिस पर तानाशाही पूर्वक कांतिलाल भूरिया, उनके बेटे विक्रांत भूरिया व कांग्रेस कार्यकर्ताओं पर एफआईआर दर्ज कर ली। कांग्रेस पार्टी ने जनप्रतिनिधि की आवाज कुचलने के इस प्रयास की निंदा की है। 

Dakhal News

Dakhal News 25 April 2020


bhopal, Chief Minister, Shivraj Singh Chauhan ,wishes people, Parshuram Jayanti

भोपाल। देशभर में आज परशुराम जयंती मनाई जा रही है। इस बार परशुराम जयंती पंचाग भेद के कारण 25 अप्रैल शनिवार को प्रदोष काल में मनाई जा रही है। कई स्थानों पर पारंपरिक मान्यता के अनुसार 26 अप्रैल को ही अक्षय तृतीया और भगवान परशुराम जयंती दोनों एक साथ मनाई जाएगी। इस समय पूरे देश में लॉकडाउन का पालन किया जा रहा है. इसलिए इस दिन घर पर ही भगवान परशुराम की पूजा की जाएगी। मप्र के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने परशुराम जयंती पर प्रदेशवासियों को शुभकामनाएं दी है।    मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट कर परशुराम जयंती पर भगवान परशुराम को नमन कर प्रदेश की जनता को बधाई दी है। सीएम शिवराज ने ट्वीट कर लिखा ‘ॐ जामदग्न्याय विद्महे महावीराय,धीमहि तन्नो परशुराम: प्रचोदयात। पराक्रम के कारक एवं सत्य के धारक तथा शस्त्र व शास्त्र के धनी, परशुराम जयंती पर उनके चरणों में कोटि - कोटि नमन! आपका अप्रतिम ज्ञान और संहारक शक्ति भारत को समर्थ, सशक्त राष्ट्र के निर्माण पथ पर गतिमान रखेगी।   भाजपा प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा ने अपने ट्वीट में कहा ‘भगवान श्रीहरि विष्णु के छठे अवतार महादेव के उपासक भगवान परशुराम की जयंती पर हार्दिक शुभकामनाएं।    भाजपा राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने परशुराम जयंती पर ट्वीट कर लिखा ‘ॐ जाम्दग्न्याय विद्महे महावीराय धीमहि। तन्नो परशुराम: प्रचोदयात।।ॐ रां रां ॐ रां रां ।ॐ पशुहस्ताय नम: इति मूलमन्त्र:।।‘भगवान परशुराम जयंती’ के शुभ पर्व पर आप सभी को शुभकामनाएँ।  

Dakhal News

Dakhal News 25 April 2020


indore,Computer Baba, wrote a letter ,PM Modi ,demanding food, sage saints

इंदौर। नदी न्यास समिति के पूर्व अध्यक्ष और षट्दर्शन संत समिति मध्यप्रदेश के अध्यक्ष कंप्यूटर बाबा ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को पत्र लिखकर महाराष्ट्र के पालघर में संतो की नृशंस हत्या करने वाले दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की मांग की है। इसके अलावा उन्होंने लॉकडाउन में संतों तथा पुजारियों के भोजन का उचित प्रबंध करने की मांग भी की है।    महामंडलेश्वर कंप्यूटर बाबा ने शनिवार को बताया कि नदियों के किनारे कुटिया बनाकर रहने वाले संतो की वर्तमान में भूखे मरने की नौबत आ गई है। वही मंदिरों के पुजारियों के साथ भी ऐसी ही स्थिति है। कम्प्यूटर बाबा ने बताया कि उन्होंने प्रधानमंत्री से पत्र के जरिये मांग की है कि केंद्र सरकार देश के सभी प्रदेशों के मुख्यमंत्री और प्रशासन को निर्देशित करें कि संतों और पुजारियों के भोजन को व्यवस्था की जाए नही तो संत समाज के भूखे मरने की नौबत आ जायेगी। बताया जा रहा है कि बाबा इसके पहले भी पत्र के जरिये पीएम से संतों के भोजन और राशन की मांग कर चुके हैं।

Dakhal News

Dakhal News 25 April 2020


bhopal, CM Shivraj ,tweeted, instructed , arrest  accused , Damoh rape case

भोपाल। मध्यप्रदेश में दमोह जिले के जबेरा थाना क्षेत्र अंतर्गत ग्राम बंशीपुर में एक सात वर्षीय मासूम बच्ची के साथ हुए अपहरण और दुष्कर्म मामले में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने घटना को संज्ञान में लेकर आरोपितों को जल्द पकडऩे के निर्देश दिए है।    मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने गुरुवार को ट्वीट कर मासूम के साथ हुई घटना को शर्मनाक और दुर्भाग्यपूर्ण बताते हुए परिजनों को सहायता का अश्वासन भी दिया है। सीएम शिवराज ने अपने ट्वीट में लिखा कि ‘दमोह जिले में एक मासूम बिटिया के साथ हुई दुष्कर्म की घटना शर्मनाक और दुर्भाग्यपूर्ण है। मैंने घटना का संज्ञान लेकर अपराधी को जल्द से जल्द पकडऩे के निर्देश दिए हैं। उस दरिंदे को सख्त से सख्त सज़ा दी जाएगी! बिटिया के समुचित इलाज में किसी भी प्रकार की कमी नहीं आने दी जाएगी।   इससे पहले पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने ट्वीट कर प्रदेश सरकार पर सवाल साधते हुए बच्ची के ईलाज और दोषियों को पकडऩे की मांग की थी। कमलनाथ ने ट्वीट कर कहा था कि ‘शिवराज जी, ये प्रदेश में क्या हो रहा है। लॉकडाउन में भी अपराधियों के हौसले बुलंद ?दमोह के जबेरा में एक मासूम बालिका की दोनो आँख फोडऩे व दरिंदगी की भी बात सामने आ रही है। इतनी नृशंस,दरिंदगी भरी घटना,वो भी लॉक डाउन के दौरान,जहाँ आमजन आवश्यक वस्तुओं के लिये भी घर से बाहर तक नहीं जा पा रहा है,वहाँ अपराधी खुलेआम घूम रहे है,प्रदेश में रेप,हत्या,किसान की हत्या, गोलीबाज़ी, चाकूबाज़ी की घटनाएँ जारी। एक माह की आपकी सरकार प्रदेश को किस ओर ले जा रही है। दमोह की इस विभत्स घटना के आरोपियों को शीघ्र पकड़ा जाये , उन पर कड़ी से कड़ी कार्यवाही हो , सरकार मासूम बालिका का इलाज करवाये , परिवार की हरसंभव मदद हो , दोषी व लापरवाह जिम्मेदारों पर भी कड़ी कार्यवाही हो।  

Dakhal News

Dakhal News 23 April 2020


bhopal,Former minister ,PC Sharma, big statement , new government

भोपाल। मध्य प्रदेश में कांग्रेस की सरकार को गिराकर भाजपा ने एक बार फिर सत्ता हासिल कर ली है। कांग्रेस में नजरअंदाज किए जाने से नाराज ज्योतिरादित्य सिंधिया के भाजपा में शामिल होने और सिंधिया समर्थक नेताओं की बगावत के चलते 15 साल बाद सत्ता हासिल करने में सफल हुई कांग्रेस को मुंह की खानी पड़ी। अब प्रदेश में 24 विधानसभा सीटों पर उनचुनाव होने है। ऐसे में कांग्रेस को पूरा विश्वास है कि वह उपचुनाव में अधिक सीटों पर चुनाव जीतकर एक बार फिर सत्ता हासिल करने में सफल होगी।    प्रदेश में बनी भाजपा की नई सरकार पर पूर्व मंत्री और कांग्रेस विधायक पीसी शर्मा ने बड़ा बयान दिया है। गुरुवार को मीडिया से बातचीत करते हुए पीसी शर्मा ने कहा है कि मध्य प्रदेश भाजपा सरकार  केवल 3-4 माह की सरकार है। उपचुनाव में कांग्रेस सीटें जीतेंगी और शिवराज सरकार गिर जाएगी। इस दौरान पीसी शर्मा ने सिंधिया सर्मथक नेताओं पर भी हमला बोला। उन्होंने शिवराज सरकार द्वारा सिंधिया समर्थक नेताओं को मंत्री बनाकर दिए गए विभागों की तुलना कांग्रेस सरकार से करते हुए कहा कि कमलनाथ सरकार में सिंधिया समर्थक मंत्रियों के पास सभी अच्छे विभाग थे। मंत्री गोविंद सिंह राजपूत पर तंज कसते हुए पीसी शर्मा ने कहा कि उन्होंने कमलनाथ और शिवराज सिंह चौहान की कार्यशैली के अंतर को लेकर बयान दिया था और आज उन्हीं के मंत्री बनकर काम कर रहे है।   

Dakhal News

Dakhal News 23 April 2020


bhopal, Scindia wishes, new ministers, I am with you

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के मंगलवार को अपने मंत्रिमंडल का विस्तार किया। राजभवन में हुए सादा समारोह में पांच मंत्रियों नरोत्तम मिश्रा, कमल पटेल, मीना सिंह, तुलसीराम सिलावट और गोविन्द सिंह राजपूत ने पद एवं गोपनीयता की शपथ ली। पूर्व केन्द्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने मंत्रिमंडल विस्तार करने पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और सभी मंत्रियों को शुभकामनाएं दी हैं, साथ ही उन्होंने कहा है कि मैं आपके साथ हूं। सिंधिया ने मंगलवार को ट्वीट किया है कि - ‘मध्यप्रदेश में आज शपथ लेने वाले सभी पांच मंत्रियों और मुख्यमंत्री को मेरी शुभकामनाएं। मुझे पूरी उम्मीद है कि शिवराज सिंह चौहान जी के सक्षम नेतृत्व में आप सभी कोरोना के खिलाफ मिलकर लड़ेंगे और जीतेंगे भी, साथ ही संकट की इस घड़ी में प्रदेश के नागरिकों को आवश्यक सेवा और वस्तुओं की निर्बाध आपूर्ति भी सुनिश्चित करेंगे। कोरोना के खिलाफ इस लड़ाई में आपको जहां भी आवश्यकता हो, मैं आपके साथ खड़ा हूं। वहीं, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी सभी मंत्रियों को बधाई दी है। उन्होंने ट्वीट किया है कि - ‘मेरे मंत्रिमंडल में साथ जुडऩे के लिए साथी नरोत्तम मिश्रा, तुलसीराम सिलावट, कमल पटेल, गोविंद राजपूत और सुश्री मीना सिंह जी को हार्दिक बधाई। हम सब साथ मिलकर मध्यप्रदेश की प्रगति, विकास और जनकल्याण के ध्येय को प्राप्त करेंगे।

Dakhal News

Dakhal News 21 April 2020


bhopal, CM formed cabinet , strengthen his hand, battle ,Corona, VD Sharma

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मंगलवार को अपने मिनी मंत्रिमंडल का गठन किया। राजभवन में आयोजित सादे समारोह में पांच मंत्रियों ने पद एवं गोपनीयता की शपथ ली। शिवराज के मंत्रिमंडल गठन को लेकर भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा ने अपनी प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने मीडिया से बातचीत में कहा है कि शिवराज सिंह चौहान मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने के साथ ही कोरोना संकट से निपटने में जुट गए थे। अब उन्होंने अपने हाथ मजबूत करने के लिए इस मिनी मंत्रिमंडल का गठन कर लिया है। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष बीडी शर्मा ने मंगलवार को मीडिया से बातचीत में कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और केन्द्रीय गृहमंत्री अमित शाह के कहने के बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शपथ लेते हुए अपनी पहली प्राथमिकता कोरोना संक्रमण से उपजे संकट से निपटना बताया था। आज के समय में मुख्यमंत्री ने अथक मेहनत करके इस महामारी को बहुत गंभीरता के साथ कंट्रोल में करने का प्रयास किया है। सरकार ने इसके लिए टास्क फोर्स का गठन किया। एडवाइजरी कमिटी बनाई गई, जिसके बाद अन्य कुछ लोगों की आवश्यकता को देखते हुए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आज पांच सदस्य टीम के रूप में एक मिनी कैबिनेट का विस्तार किया है। उन्होंने कहा कि शपथ ग्रहण समारोह में कोरोना को लेकर जारी निर्देशों का पालन करते हुए सोशल डिस्टेंसिंग का भी ख्याल रखा गया। इस संक्रमण से लडऩे के खातिर अपने हाथ को मजबूत करने के लिए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मंत्रिमंडल गठन का निर्णय लिया। इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा है कि शपथ लिए नए मंत्रियों के विभाग का बंटवारा मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा जल्द ही तय किया जाएगा।

Dakhal News

Dakhal News 21 April 2020


bhopal,  TI death ,Ujjain, Kamal Nath, again raised questions ,about security

भोपाल। कोरोना के खिलाफ अपनी सेवा देते हुए संक्रमित होकर अपनी जान गंवाने वाले उज्जैन के नीलगंगा थाना प्रभारी यशवंत सिंह के निधन पर पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने गहरा दुख जताया है। उन्होंने टीआई यशवंत पाल की शहादत को सलाम करते हुए परिजनों के प्रति शोक संवेदना व्यक्त की है।    कमलनाथ ने ट्वीट के माध्यम से टीआई यशवंत पाल के निधन पर गहरा दुख व्यक्त करते हुए लिखा कि ‘बेहद दु:खद ख़बर। आज इंदौर के बाद हमारे उज्जैन के नीलगंगा थाना प्रभारी श्री यशवंत पाल, जो जनता की सुरक्षा के लिये, ईमानदारी से अपने कर्तव्यों का पालन कर रहे थे, कोरोना की जंग हार गये। ऐसे कर्तव्यनिष्ठ अधिकारी की शहादत को सलाम। जब जनता की सुरक्षा के लिये अपनी जान जोखिम में डाल फ़ील्ड में तैनात ऐसे कर्मवीर योद्धा ही हमारे बीच से चले जाते है तो वो बड़ा ही दु:खद पल होता है। परिवार के प्रति मेरी शोक संवेदनाएँ। ईश्वर उन्हें अपने श्री चरणों में स्थान प्रदान करे।   एक अन्य ट्वीट कर कमलनाथ ने एक बार फिर सरकार से कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहे स्वास्थ्यकमियों, पुलिस और अन्य क्षेत्र के कर्मवीर योद्धाओं के लिए सुरक्षा के पर्याप्त इंतजाम करने की मांग की है। साथ ही इनकी सुरक्षा को लेकर सवाल भी उठाए है। उन्होंने कहा है कि ‘मैं आज एक बार फिर सरकार से यह माँग कर रहा हूँ कि जनता की सुरक्षा के लिये अपनी जान को जोखिम में डाल ,फ़ील्ड में काम कर रहे डॉक्टर्स, स्वास्थ्यकर्मी, पुलिस कर्मी,मेडिकल स्टाफ़, आशा कार्यकर्ता, अधिकारी-कर्मचारीगण ही जिस प्रकार से बड़ी संख्या में कोरोना से संक्रमित होते जा रहे है, सभी को तत्काल पीपीई किट, मास्क से लेकर सुरक्षा के आवश्यक सारे संसाधन उपलब्ध कराये जाये। यह कर्मवीर योद्धा ही जब सुरक्षित नहीं रह पायेंगे, तो यह आमजन की सुरक्षा कैसे कर पायेंगे।

Dakhal News

Dakhal News 21 April 2020


guna, Scindia assured ,deliver her trapped daughter, Kota

गुना। मध्यप्रदेश के गुना में रहने वाले एनएफएल के कर्मचारी आशीष जैन की बेटी अंशिका जैन कोरोना संक्रमण के बचाव के लिए लागू लॉकडाउन के चलते कोटा में फंस गई है। आशीष ने अंशिका को अपने घर पहुंचाने के लिए सोशल मीडिया के माध्यम से ज्योतिरादित्य सिंधिया से गुहार लगाई थी। सिंधिया ने शनिवार को आशीष को उसकी बेटी अंशिका को सुरक्षित अपने घर पहुंचाने का आश्वासन दिया है। दअसल, गुना निवासी आशीष जैन की बेटी अंशिका राजस्थान के कोटा शहर में एलन कोचिंग से आईआईटी की तैयारी कर रही है। कोरोना के कारण लॉक डाउन के चलते वह कोटा में ही फंस गई है। आशीष ने अपनी पुत्री को गुना लाने के हरसंभव प्रयास किये, लेकिन वह इसमें सफल नहीं हो पाए। तब हताश होकर उन्होंने ट्वीट के माध्यम से पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया को संदेश भेजकर अपनी बेटी को वापस अपने घर पहुंचाने के लिए मदद की गुहार लगाई। सिंधिया के संज्ञान में आते ही उन्होंने पीडि़त पिता से सम्पर्क कर उनकी पुत्री के बारे में विस्तृत जानकारी ली और हर संभव मदद का आश्वासन दिया।सिंधिया ने शनिवार को ट्वीट कर आशीष को आश्वासन देते लिए लिखा है कि - ‘आपसे दूरभाष पर चर्चा के अनुसार, मेरी राजस्थान के उप मुख्यमंत्री सचिव पायलय जी से आपकी बिटिया अंशिका के सुरक्षा को लेकर चर्चा हुई है। आप आश्वस्त रहें कि आपकी बेटी की उचित देखभाल की जाएगी और शीघ्र ही उसकी घर वापसी की कोशिश की जा रही है।’इसके अलावा सिंधिया ने एक अन्य ट्वीट में बताया कि उन्होंने प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से संपर्क कर इस मामले की जानकारी दी और शीघ्र वहां कोचिंग संस्थानों में अध्ययनरत अंशिका जैन व प्रदेश के अन्य छात्र-छात्राओं को उनके घरों तक वापस पहुंचाने में मदद करने की अपील की है। सिंधिया की पहल पर राज्य सरकार ने कोटा में फंसे छात्र-छात्राओं को वापस लाने की तैयारी शुरू कर दी है। बताया जा रहा है कि प्राइवेट बसों का इंतजाम किया जा रहा है और कोचिंग संस्थानों से प्रदेश के बच्चों का विवरण मांगा जा रहा है, जिससे शीघ्र बच्चों की घर वापसी हो सके।

Dakhal News

Dakhal News 19 April 2020


bhopal, CPI M raised questions , opening government office, invitation

भोपाल। मध्यप्रदेश सरकार ने सोमवार, 20 अप्रैल से राज्य के एक तिहाई कर्मचारियों के साथ कुछ प्रमुख सरकारी कार्यालयों को खोलने का निर्णय लिया है। मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) ने इस निर्णय पर सवाल उठाकर इसे अदूरदर्शी बताते हुए कहा है कि यह नई आपदा को आमंत्रण देने वाला साबित हो सकता है। इसके वैसे ही गंभीर परिणाम होंगे, जैसे अचानक और बिना पूर्व तैयारी के शुरू किए गए लाँकडाउन के हुए थे, जिसमें 12 करोड़ प्रवासी मजदूरों पर संकट का एक नया पहाड़ टूट गया था। पार्टी के राज्य सचिव जसविंदर सिंह ने रविवार को मीडिया को जारी अपने बयान में कहा है कि कार्यालय को शुरू करने से पहले सरकार को सुनिश्चित करना चाहिए कि सभी कर्मचारियों और उनके परिवार का कोरोना टेस्ट करवाया जाये। अन्यथा यह निर्णय बीमारी को भयावह बना सकता है। उन्होंने कहा कि भोपाल में वल्लभ भवन और आसपास के कार्यालयों में दस हजार के आसपास कर्मचारी कार्यरत हैं। एक तिहाई का अर्थ है कि करीब सवा तीन हजार कर्मचारी उपस्थित होंगे। इनमें से किसी एक के भी संक्रमित होने से सारे कर्मचारियों का जीवन खतरे में पड़ सकता है।उल्लेखनीय है कि सरकार रोटेशन से एक तिहाई कर्मचारियों को बुलायेगी। इसलिए जांच सभी कर्मचारियों और उनके परिजनों करवानी होगी। माकपा के अनुसार कोरोना के संक्रमण को हल्के से लेने से ही प्रदेश का स्वास्थ्य विभाग सबसे अधिक संक्रमण का शिकार हुआ है और राजधानी भोपाल में पाजिटिव पाए जाने वाले केसों में 60 प्रतिशत के आसपास सिर्फ स्वास्थ्य विभाग के हैं।जसविंदर सिंह ने कहा है कि सरकारी कामकाज चलाने के लिए कार्यालयों का खुलना जरूरी हो सकता है, मगर इसके लिए पहले कार्यालयों और आसपास के स्थानों का सैनिटाइज होना और कर्मचारियों की जांच होना बेहद अहम है। संभवत: इस ओर सरकार अभी तक उदासीन है। माकपा ने कार्यालयों को शुरू करने से पहले कर्मचारी संगठनों से भी विमर्श करने की सलाह सरकार को दी है।

Dakhal News

Dakhal News 19 April 2020


bhopal, Kamal Nath ,VD Sharma ,IIFA , fighting against Corona

भोपाल। मध्य प्रदेश में कोरोना के बिगड़ते हालातों के बाद राजनीतिक पार्टियों में आरोप-प्रत्यारोप तेज हो गए हैं। एक ओर जहां कांग्रेस प्रदेश सरकार को कोरोना पर काबू पाने में असफल बता रही है और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान पर जमकर हमला बोल रही है। वहीं भाजपा भी कांग्रेस के आरोपों पर जमकर पलटवार कर रही है। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा ने प्रदेश में बिगड़े कोरोना के हालातों के लिए पूर्ववर्ती कांग्रेस शासित कमलनाथ सरकार पर आरोप लगाया है।    भाजपा प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा रविवार को कांग्रेस पर जमकर बरसे और ट्वीट कर मप्र में बिगड़े कोरोना के हालातों के लिए पूर्ववर्ती कमलनाथ सरकार पर गंभीर आरोप लगाए है। वीडी शर्मा ने ट्वीट कर लिखा ‘जब प्रदेश को कोरोना के खिलाफ लड़ाई की तैयारी करनी चाहिए थी, प्रदेश के तत्कालीन मुख्यमंत्री कमलनाथ आईफा अवार्ड की तैयारियों में पूरे प्रसाशन के साथ व्यस्त थे और यही कारण है कि इंदौर और भोपाल आज इस स्तिथि में हैं।   एक अन्य ट्वीट कर उन्होंने लिखा कि ‘कमलनाथ सरकार ने पिछले 1 साल में सिर्फ दो ही काम किये हैं, ट्रांसफर - पोस्टिंग और भाजपा द्वारा चलाई जा रही जनकल्याणकारी योजनाओं को बंद करना। भ्रष्टाचार एक मात्र लक्ष्य था कमलनाथ सरकार का। प्रदेश के लिए यह राहत की बात है कि इस समय कांग्रेस सत्ता में नहीं है, नहीं तो प्रदेश में स्तिथि और भयाभय होती, कांग्रेस की प्राथमिकताओं के बारे में तो पूरा देश जानता है, जनता-जनार्दन उनके लिए सबसे आखिरी में आते हैं और शायद उनकी प्राथमिकताओं में हैं ही नहीं।  

Dakhal News

Dakhal News 19 April 2020


new delhi, Government should help , poor , ration instead ,speech

नई दिल्ली। कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल ने कोविड-19 (कोरोना वायरस) महामारी के प्रकोप से लड़ने के लिए देशभर में जारी लॉकडाउन को सही तरीके से लागू नहीं किए जाने को गरीब एवं प्रवासी मजदूरों की समस्याएं बढ़ने का मुख्य कारण बताया है। साथ ही उन्होंने जरूरतमंद लोगों को राशन की उपलब्धता नहीं होने के लिए सरकार के एक्शन पर सवाल खड़े किए हैं। उन्होंने कहा कि सरकार को भाषण के बजाय गरीबों तक राशन पहुंचाने पर जोर देना चाहिए।   कपिल सिब्बल ने गुरुवार को ट्वीट कर कहा, ‘जो भी लोग जो भी गरीबों, प्रवासी मजदूरों को खाना खिला रहे हैं उन गुरुद्वारों, मंदिरों, एनजीओ को हमारा सलाम! हमारे लोग सरकार का समर्थन करने को तैयार हैं लेकिन सरकार को भी अपने लोगों की मदद करनी चाहिए।’ सिब्बल ने कहा कि सरकार को लोगों की मदद लाठीचार्ज और भाषण के जरिए नहीं बल्कि उन तक राशन पहुंचाकर तथा उनकी आर्थिक जरूरतों को पूरा कर करनी चाहिए। उल्लेखनीय है कि कांग्रेस पार्टी लगातार केंद्र से मांग करती रही है कि गरीबों को मुफ्त राशन की सुविधा तथा कामकाज प्रभावित होने की स्थिति में आर्थिक मदद की जाए। वहीं बीते दिनों राहुल गांधी ने ट्वीट कर गरीब मजदूरों को अनाज दिए जाने की बात कहते हुए ‘आपातकाल राशन कार्ड’ जारी करने की मांग की थी। उन्होंने कहा था कि देश में कई गोदामों में अनाज सड़ रहा है, जबकि लोग भूखे मरने की कगार पर हैं।

Dakhal News

Dakhal News 16 April 2020


bhopal, Congress released list, showing difference,  Shivraj and Kamal Nath government

भोपाल। कोरोना महामारी को लेकर प्रदेश में बनी विषम परिस्थितियों के बीच राजनीतिक आरोप-प्रत्यारोप भी तेज हो गए हैं। कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष के मीडिया समन्वयक नरेंद्र सलूजा ने एक सूची जारी कर शिवराज सरकार और कमलनाथ सरकार के कार्यों में अंतर बताया है। साथ ही उन्होंने कहा है कि वैश्विक महामारी कोरोना को लेकर आज पूरा देश एकजुट है, सभी राजनीतिक दल एकजुट हैं। कांग्रेसजन भी केंद्र सरकार और राज्य सरकार के साथ कंधे से कंधा मिलाकर चल रहे है लेकिन अपनी असफलता छिपाने के लिए भाजपा के नेता लगातार झूठी बयानबाजी कर कोरोना को लेकर कांग्रेस को कोसने का काम कर रहे हैं। कोरोना को राजनीति का विषय बना रहे हैं।   सलूजा ने गुरुवार को एक बयान जारी कर भाजपा पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने आरोप लागते हुए कहा कि मध्यप्रदेश में भाजपा नेता लगातार पूर्व की कमलनाथ सरकार पर झूठे आरोप लगा रहे हैं। वे अपने बयानों में बार-बार यह सवाल उठा रहे हैं कि 23 मार्च तक प्रदेश में कमलनाथ सरकार थी,उसने कोरना महामारी को रोकने को लेकर क्या किया? इन सब आरोप-प्रत्यारोप के बीच कांग्रेस ने कमलनाथ सरकार के कोरोना को लेकर 23 मार्च तक के किए कार्यों को जनता को बताते हुए, 23 मार्च के बाद शिवराज सरकार में कोरोना को लेकर प्रदेश की हुई भयावह स्थिति को उजागर भी किया है।   कमलनाथ सरकार के 23 मार्च तक कोरोना को लेकर किए गए कार्य -   -कोरोना कि देश में आहट को देखते हुए 4 मार्च को मुख्यमंत्री के निर्देश पर मुख्य सचिव ने समीक्षा बैठक कर प्रदेश भर के कलेक्टर से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग कर कोरोना से बचाव को लेकर आवश्यक दिशा-निर्देश दिए। -10 मार्च को प्रदेश में होली के सारे कार्यक्रम निरस्त किए। - 13 मार्च को प्रदेश के सारे शॉपिंग मॉल,स्कूल -कॉलेज व सिनेमाघर बंद करने के आदेश दिए।मध्यप्रदेश सबसे पहले ऐसा निर्णय लेने वाला देश का पहला राज्य बना। -14 मार्च को रंग पंचमी के अवसर पर इंदौर में निकलने वाली ऐतिहासिक गैर को निरस्त कर, प्रदेश भर में रंग पंचमी के आयोजन निरस्त किए। - 16 मार्च को विधानसभा का बजट सत्र स्थगित किया। -मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कोरोना की समीक्षा कर प्रदेश भर में अधिकारियों को आवश्यक कदम उठाने के दिशा निर्देश जारी किये। -23 मार्च तक प्रदेश में कोरोना के कुल कुल 4 केस। ———————-   23 मार्च से शिवराज सरकार द्वारा किए गये कार्य - -कोरोना को डरोना बताना। -23 मार्च विधायक दल की बैठक आयोजित की। एक दूसरे को हार पहनाकर, गले मिलकर, हाथ पकड़ कर, फोटो खिंचा कर बधाइयां दी। कोरोना प्रोटोकाल का जमकर मजाक  उड़ाया। -मुख्यमंत्री का शपथ ग्रहण समारोह आयोजित किया। -24 से 27 मार्च तक अलग-अलग कलर के जैकेट से मैचिंग मास्क का प्रदर्शन। -विधानसभा का सत्र आयोजित किया। -कोरोना से लडऩा पहली प्राथमिकता बताया लेकिन कोरोना की आड़ में ट्रांसफर उद्योग चालू। -मात्र 21 दिन में प्रदेश कोरना को लेकर देश में पांचवें स्थान पर, मृत्यु दर के मामले में देश में दूसरे स्थान पर, प्रदेश का इंदौर देश में तीसरे स्थान पर। कोरोना को लेकर प्रदेश देश भर में चर्चित। -प्रदेश में 26प्रतिशत की दर से प्रतिदिन कोरोना के मरीज बढ़े। -प्रदेश के 5 जिले देश के रेड ज़ोन हॉटस्पॉट में शामिल। -प्रदेश में आज दिनांक तक कुल संक्रमित संख्या 938, कुल मृत्यु 53, अकेले इंदौर शहर में कुल संक्रमित संख्या 696, कुल मृत्यु 39 । -लोगों को राशन नहीं मिल रहा, भुखमरी की स्थिति। आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति नहीं। -प्रदेश के कुल 24 जिले कोरोना से संक्रमित। -प्रदेश के इंदौर-देवास-खंडवा में एम्बुलेंस ना मिलने से मरीजों की मौत की घटना। -मेडिकल उपकरण व संसाधनों के अभाव में प्रदेश के इंदौर में दो डॉक्टर की मृत्यु व इंदौर- भोपाल में कई डॉक्टर व नर्स संक्रमित। -भोपाल में स्वास्थ्य विभाग के 94 अधिकारी-कर्मचारी संक्रमित। कई जिम्मेदार ही संक्रमित। -प्रदेश भर में कई लोगों की इलाज ना मिलने से अकाल मृत्यु की घटनाएँ। -टेस्टिंग किट का अभाव, पीपीई किट का अभाव, मास्क, सेनेटाईजर का अभाव। -प्रदेश में टेस्टिंग की संख्या अन्य राज्यों की तुलना में काफ ी कम। -प्रदेश में ना स्वास्थ्य मंत्री ना गृह मंत्री ना अन्य मंत्री। प्रदेश में एक व्यक्ति की सरकार। -मंत्रिमंडल की जगह भाजपा का टास्क फ़ोर्स गठित, जिसमें डॉक्टर-विशेषज्ञों की जगह भाजपा नेता। -सरकार का प्रदेश पर कोई नियंत्रण नहीं, प्रदेश की स्थिति दिन-प्रतिदिन भयावह। कांग्रेस ने वास्तविकता जारी कर कहा कि यह कमलनाथ सरकार व शिवराज सरकार में अंतर है। भाजपा व प्रदेशवासी इसका अंतर खुद देख, सच्चाई जान ले।  

Dakhal News

Dakhal News 16 April 2020


bhopal, PM Modi ,showed , country the way , defeat Corona ,Shivraj

भोपाल। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मंगलवार को देश को संबोधित कर आगामी 03 मई तक के लिए देशव्यापी लॉक डाउन को बढ़ा दिया है। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने इस पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सारे देश को कोरोना को परास्त करने का रास्ता दिखाया है। हम उनके नेतृत्व में कोरोना से युद्ध जीतेंगे। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश में कोरोना से लडक़े के कार्य केंद्र के अनुसार होंगे। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मंगलवार को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा संबोधन को लेकर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा है कि कोरोना संक्रमण के चलते तीन मई तक के लिए बढ़ाए गए देशव्यापी लॉकडाउन को लेकर केन्द्र सरकार द्वारा कल एक विस्तृत गाइड लाइन घोषित की जाएगी। मध्यप्रदेश में उसी गाइड लाइन के आधार पर कोरोना से लडऩे कार्य किए जाएंगे। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री ने देश के हित में लॉक डाउन की अवधि को आगे बढ़ाया है। मध्यप्रदेश में भी 3 मई तक लॉकडाउन जारी रहेगा।सीएम शिवराज ने कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी भारत की करोड़ों जनता के हृदय के हार हैं। वे दृढ़ इच्छाशक्ति वाले व्यक्ति हैं तथा दूरदर्शी नेता हैं। प्रधानमंत्री मोदी जी ने आज फिर सारे देश का मार्गदर्शन किया है। सारे देश और मध्यप्रदेश को उन्होंने जो कोरोना को परास्त करने के लिए रास्ता दिखाया है। शिवराज ने कहा कि हम प्रधानमंत्री मोदी जी के नेतृत्व में कोरोना के खिलाफ एकजुट होकर लड़ाई लड़ेंगे और उसमें सफल भी होंगे।

Dakhal News

Dakhal News 14 April 2020


bhopal, Kamal Nath, appealed ,follow the path shown, Dr. Ambedkar Jayanti

भोपाल। संविधान के रचियता, भारत रत्न डॉ बाबा साहेब भीमराव अंबेडकर की जयंती पर पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने उन्हें नमन किया है। कमलनाथ ने अपने निवास पर ही बाबा साहब की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर उन्हें श्रद्धांजलि दी। कमलनाथ ने ट्वीट कर बाबा साहेब अंबेडकर की जयंती पर शत-शत नमन करते हुए कहा है कि बाबा साहेब ने संवैधानिक अधिकारों से संपन्न समतावादी समाज के निर्माण में अतुलनीय योगदान दिया। यह सभी प्रदेशवासियों के लिए गर्व की बात है कि बाबा साहेब की जन्मस्थली मध्यप्रदेश है।   कमलनाथ ने एक वीडियो संदेश के माध्यम से बाबा साहब की जयंती पर उनके दिखाए मार्ग पर चलने की देश और प्रदेशवासियों से अपील की है। कमलनाथ ने कहा है कि संविधान निर्माता ,भारत रत्न ,बाबा साहेब डॉ. भीमराव अम्बेडकर जयंती की सभी को शुभकामनाएँ। बाबा साहेब के समाज सुधारक  के रूप में किये गये कार्य आज भी हम सभी के लिये प्रेरणादायी है। आज के दिन हम अपने संवैधानिक अधिकारों और कर्तव्यों के प्रति सचेत रहने का संकल्प लें। आगे उन्होंने कहा कि हमें गर्व है कि बाबा साहब का जन्म मप्र में हुआ। मेरी इच्छा थी कि मैं बाबा साहब की जन्मस्थली महू जाकर उनकी प्रतिमा पर माल्यार्पण करूं। मगर इस महामारी की स्थिति में यह संभव नहीं है, इसलिए मैं उनका जन्मदिन अपने घर पर ही बना रहा हूं। आईए आज संकल्प लें कि हम सब दलित और पिछड़े समाज की तरक्की के लिए काम करेंगे और बाबा साहब के दिखाए मार्ग पर चलेंगे।   

Dakhal News

Dakhal News 14 April 2020


bhopal,Congress leader, raised questions,acting on Corona-infected, two IAS

भोपाल।  कांग्रेस नेता के.के.मिश्रा ने प्रदेश की राजधानी भोपाल में कोरोना संक्रमित दो आईएएस अधिकारी स्वास्थ्य विभाग की प्रमुख सचिव पल्लवी जैन और आईएएस के.विजयकुमार पर आज तक किसी भी प्रकार की कोई भी कार्यवाही न किये जाने को लेकर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को आड़े हाथों लिया है। मिश्रा ने तंज कसते हुए कहा कि आखिरकार मुख्यमंत्री का इन अधिकारियों के समक्ष "आत्म समर्पण" का कारण क्या है?   मंगलवार को जारी अपने एक बयान में कांग्रेस  नेता के के मिश्रा ने इन अधिकारियों के खिलाफ आपराधिक प्रकरण दर्ज किए जाने की मांग और इन पर पर सीधा आरोप लगाते हुए कहा कि एक ओर पल्लवी जैन के पुत्र भारत गोविल सारे विश्व के कोरोना में चपेट में आ जाने के बाद गत 17 मार्च को अमेरिका से भोपाल आये और पल्लवी जैन के निवास पर रह रहे थे। यह जानकारी छुपाकर पल्लवी जैन मुख्यमंत्री, मुख्यसचिव, डीजीपी व स्वास्थ्य विभाग के अन्य वरिष्ठ अधिकारियों के साथ मंत्रालय में सम्पन्न समीक्षा बैठक में बिना मास्क लगाए शिरकत करती रहीं, उन्होंने ऐसा क्यों किया,समझ से परे है? वहीं दूसरी ओर एक अन्य आइएएस के.विजयकुमार कोरोना संक्रमण दौर में बैंकाक गए। उन्होंने सवाल उठाते हुए कहा कि क्या आईएएस के विजय कुमार की यह यात्रा सरकारी थी या निजी या वे किस शारीरिक उपचार के लिए बैंकाक गए थे, इस यात्रा को लेकर क्या उन्होंने सरकार से अनुमति ली थी ? भोपाल लौटने पर उन्होंने अपनी जांच क्यों नहीं करवाई? मिश्रा ने कहा कि इन अधिकारियों की वजह से आज वल्लभ भवन, सतपुड़ा तथा विंध्याचल भवन में कार्यरत कई आइएएस व अन्य कर्मचारियों की कोरोना पॉजिटिव रिपोर्ट आई है और वे उपचाररत हैं। अकेले स्वास्थ्य विभाग से ही सम्बद्ध करीब 80 अधिकारी, कर्मचारी व उनके परिजन ऐसे प्रभावितों में शामिल हैं।   के के मिश्रा ने कहा कि मुख्यमंत्री ने हाल ही में यह बात जोर देकर कही थी कि जिन लोगों ने कोरोना संक्रमण की जानकारी छुपाई है, जिसके कारण कई बेगुनाह काल के ग्रास बने हैं। उनके विरुद्ध हत्या के प्रयास के तहत भादंवि की धारा-307 के तहत आपराधिक प्रकरण दर्ज होगा। कांग्रेस नेता ने सवाल उठाते हुए कहा कि यहां मुख्यमंत्री की खामोशी का संकेत क्या है? क्या ऐसे ही दोहरे मापदंडों से प्रदेश में कोरोना के खिलाफ  जंग लड़ी जाएगी,कोरोना के खिलाफ  डटकर मुकाबला इसी तरह होगा?  

Dakhal News

Dakhal News 14 April 2020


bhopal, Chief Minister ,Governor Lalji Tandon, 85th birthday

भोपाल। मध्य प्रदेश के राज्यपाल लालजी टंडन का आज रविवार को जन्मदिन है। वे आज 85 वर्ष के हो गए। हालांकि कोरोना संकट के दृष्टिगत राज्यपाल ने इस वर्ष जन्म दिवस नहीं मनाने का निर्णय लिया है। राज्यपाल ने कहा है कि कोरोना वायरस संकट के दौर में सोशल डिस्टेसिंग के मापदंडों का अक्षरश: पालन किया जाना आवश्यक है। इसलिए किसी तरह का सामाजिक उत्सव अथवा आयोजन नहीं किया जाए। उन्होंने प्रदेशवासियों से पुन: अपील की है कि कोरोना केयर के लिये प्रधानमंत्री एवं मुख्यमंत्री कोष में दान दें। राज्यपाल लालजी टंडन के जन्मदिन के अवसर पर मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने उन्हें जन्मदिन की शुभकामनाएं देते हुए उनके दीर्घायु होने की कामना की है।   मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीटर के माध्यम से राज्यपाल लालजी टंडन को जन्मदिन की शुभकामनाएं देते हुए लिखा ‘राष्ट्र उत्थान और जनहित के लिए अथक एवं अविराम कार्य करने वाले हमारे अग्रज, मार्गदर्शक, मध्यप्रदेश के राज्यपाल आदरणीय श्री लालजी टंडन को जन्मदिन की हार्दिक बधाई। आप स्वस्थ रहें, दीर्घायु हों और आपका आशीर्वाद हम सब पर ऐसे ही बना रहे, यही ईश्वर से प्रार्थना’!   भाजपा प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा ने राज्यपाल लालजी टंडन को जन्मदिन पर शुभकामनाएं देते हुए उनके उत्तम स्वास्थ्य की कामना की है। वीडी शर्मा ने अपने ट्वीट में लिखा ‘मध्यप्रदेश के आदरणीय राज्यपाल श्री लालजी टंडन जी को जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनायें। ईश्वर से उनके उत्तम स्वास्थ्य एवं दीर्घायु की कामना करता हूँ।   पूर्व मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने राज्यपाल लालजी टंडन के जन्मदिन की बधाई देते हुए अपने ट्वीट में लिखा ‘दीर्घायुरारोग्यमस्तु,सुयश: भवतु, विजय: भवतु,जन्मदिनशुभेच्छा:! कर्तव्य निष्ठ, दृढ़ इच्छाशक्ति के धनी आदरणीय @GovernorMP श्री लालजी टंडन जी को जन्मदिन की असीम शुभकामनाएं। आप सदैव स्वस्थ रहें और स्नेह के साथ अपना मार्गदर्शन हमें देते रहें। 

Dakhal News

Dakhal News 12 April 2020


bhopal, Former minister, PC Sharma, demanded , removal of ESMA ,government

भोपाल।  जीवाजी विश्वविद्यालय के रजिस्ट्रार के पद पर 17 माह के बाद प्रो. आनंद मिश्रा की वापसी हो गयी है। शनिवार को उच्च शिक्षा विभाग ने उनकी प्रतिनियुक्ति के आदेश जारी करने के साथ ही 25 दिन पूर्व रजिस्ट्रार बनाये गये प्रो. एपीएस चौहान को हटाने के आदेश भी जारी कर दिये है। प्रो. आनंद मिश्रा भाजपा के दिग्गज नेता और पूर्व मंत्री नरोत्तम मिश्रा के भाई है। प्रदेश में कांग्रेस सरकार ने सत्ता संभालते ही सबसे पहले नरोत्तम मिश्रा के बड़े भाई को रजिस्ट्रार पद से हटाया था। 17 माह बाद दोबारा भाजपा की सरकार बनते ही उनकी वापसी हो गई है। कोरोना संकट के बीच हुई नियुक्ति पर पूर्व मंत्री और कांग्रेस विधायक पीसी शर्मा ने सवाल उठाए है।    कोरोना के समय हो रही नई नियुक्तियों पर पूर्व मंत्री पीसी शर्मा ने सवाल उठाते हुए कहा है कि कोरोना के समय भी भतीजावाद जोरों पर है। रविवार को मीडिया से बातचीत करते हुए पीसी शर्मा ने कहा कि अभी सरकार पूरी बनी भी नहीं कि भाई भतीजावाद शुरू हो गया। पूर्व मंत्री के भाई को रजिस्ट्रार बना दिया, सरकारी अधिवक्ताओं को बदल दिया गया। अभी कौन सी अदालत खुली है जहां वकीलों की जरुरत है। उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी में जब पूरा देश लॉकडाउन है तब भाई भतीजावाद बड़ा दुर्भाग्यपूर्ण है।    वहीं लॉकडाउन के दौरान ड्यूटी पर तैनात पुलिसकर्मियों को दिये जा रहे खाने की गुणवत्ता पर भी सवाल उठाते हुए पीसी शर्मा ने कहा कि पुलिस को दिए जा रहे खाने की गुणवत्ता में सुधार होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि जो पुलिस 24 घंटे काम करने में लगी है, उनको खाना व्यवस्थित दिया जाना चाहिए। तभी रात दिन इस लाकडाउन की कानून व्यवस्था को संभाल पाऐंगे। इसके अलावा सरकार द्वारा एस्मा कानून लगाए जाने को अमानवीय बतातें हुए उन्होंने कहा कि हमें स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी- अधिकारी जो आज बीमार होने के बाद भी एस्मा के चलते काम पर आ रहे है उनका ध्यान रखना होगा। पीसी शर्मा ने कहा कि सरकार को एस्मा वापस लेना चाहिए क्योंकि यह असंवैधानिक है और अमानवीयय भी। एस्मा के चलते जो बीमार अधिकारी- कर्मचारी काम पर आ रहे है वह दूसरों को भी बीमार करेंगे। वे जब तक स्वस्थ नहीं हो जाते उनको छुट्टी लेने का अधिकार है। साथ ही पुलिस विभाग का खास ध्यान रखना पडेगा क्योकि लॉकडाउन की अवधि बड़ेगी तो इन पर काम का बोझ ओर भी ज्यादा बढ़ेगा। इसके अलावा पीसी शर्मा ने सरकार से हरिणाया सरकार की तर्ज पर कोरोना वारियर्स को दोगुना वेतन देने की मांग की है।     

Dakhal News

Dakhal News 12 April 2020


ashoknagar, Mask sanitizer scam, MLA writes , Chief Minister

अशोकनगर। कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए आए घटिया किस्म के मास्क और सैनीटाईजर घोटाले को लेकर कार्रवाई हेतु कांग्रेस विधायक द्वारा मुख्यमंत्री को चिट्ठी लिखी गई है।   कोरोना जैसी आपदा पर यहां स्वास्थ्य सामग्री में किए गए घोटाले का बवाल थमने का नाम नहीं ले रहा है। चंदेरी से कांग्रेस विधायक गोपाल सिंह चौहान ने ताल ठोक कर कहा है कि उनके द्वारा मास्क और सैनेटाइजर खरीदी के लिए दी गई 10 लाख की राशि में गोलमाल हुआ है।    शुक्रवार को विधायक गोपाल सिंह चौहान ने कहा कि यहां सीएमएचओ के पद पर पदस्थ डॉ.जेआर त्रिवेदिया द्वारा इस आपदा के समय मास्क और सैनेटाजर खरीदी में गोलमाल किया है। उन्होंने कहा कि इस आर्थिक अनियमितता को लेकर उनके द्वारा मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को चि_ी लिखी गई है। विधायक ने चिट्ठी में कहा है कि एक तरफ इस आपदा में सभी लोग पंक्तिबद्ध होकर राजनैतिक भेदभाव भूलकर इस महामारी से लड़ रहे हैं। वहीं सीमएचओ डॉ.त्रिवेदिया द्वारा देशहित को दृष्टिगत न रखते हुए अवसर का लाभ उठाकर आर्थिक अनियमितता कर रहे हैं। मांग कर कहा है कि उच्च स्तरीय जांच कर कार्रवाई कराई जाए। विधायक का कहना है कि जब उनके द्वारा विधायक निधि से मास्क और सैनेटाइजर खरीदी के लिए ब्लॉक चिकित्सा अधिकारियों को उनके द्वारा स्वीकृति दी थी, फिर सीएमचओ द्वारा गलत तरीके से खरीदी क्यों की गई? 

Dakhal News

Dakhal News 10 April 2020


bhopal, Congress leader ,Arun Yadav, questioned state government, preparedness regarding Corona

भोपाल। देशभर में तेजी से फैल रहा कोरोना वायरस अब मध्य प्रदेश में भी अपनी पकड़ मजबूत कर रहा है। प्रदेश में वैश्विक महामारी कोरोना को लेकर मची उथल पुथल के बीच राजनेताओं के बीच आरोप प्रत्यारोप और बयानबाजी का दौर भी तेजी से जारी है। पूर्व कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अरुण यादव ने कोरोना को लेकर प्रदेश सरकार की तैयारियों पर बड़ा सवाल उठाया है।   पूर्व केन्द्रीय मंत्री और कांग्रेस नेता अरुण यादव ने ट्वीट कर इंदौर के एक डॉक्टर यागेश शाह का वीडियो ट्वीट पर शेयर किया है और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को घेरते हुए हमला बोला है। अरुण यादव ने आरोप लगाते हुए कहा है कि शिवराज सिंह बोल रहे हैं कि व्यवस्थाएं सुधर रही है जबकि अखबार और न्यूज़ चैनल कुछ और ही बता रही हैं। प्रदेश में झूठ और लफ्फाजी का दौर फिर से शुरू हो गया है।    अरुण यादव ने अपने ट्वीट में लिखा ‘मुख्यमंत्री शिवराज जी, आप कह रहे हैं-हालात सुधर रहे हैं, अखबारों की सुर्खियां कुछ और बयां कर रही हैं। आखिरकार, सच्चा कौन? (कु) व्यवस्थाओं को लेकर मरीजों का दर्द तो छोडि़ए, देश में इंदौर के एक डॉक्टर की पहली दु:खद मौत के बाद दूसरे डॉक्टर भी क्या कह रहे हैं, सुनिये? प्रदेश में झूठ, लफ्फ़़ाजी का दौर फिर प्रारम्भ’!!  

Dakhal News

Dakhal News 10 April 2020


bhopal, Chief Minister ,Shivraj Singh Chauhan ,binds the peoplestate

भोपाल। मध्य प्रदेश में कोरोना महामारी तेजी से पैर पसारता जा रहा है। मप्र सरकार वैश्विक महामारी कोरोना से निपटने के लिए हर स्तर पर प्रयास कर रही है। कोरोना के चलते बिगड़ते हालात को देखते हुए लॉकडाउन की अवधि बढ़ाने की चर्चा भी जोरों पर है। वहीं मप्र के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रदेश की जनता को इन विषम परिस्थितियों से निकलने का ढांढस बंधाया है।    मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शुक्रवार सुबह ट्वीट कर कोरोना महामारी के खिलाफ प्रदेश की जनता से हौंसला और धैर्य बनाए रखने की अपील करते हुए हर हाल में विषम परिस्थितियों से बाहर निकलने का आश्वासन दिया है। सीएम शिवराज सिंह ने ट्वीट कर लिखा ‘मित्रों, कोविड19 जैसी वैश्विक महामारी से हम सब मिल कर लड़ रहे है। किसी को भी निराश या हताश होने की ज़रूरत नहीं है। अब हम विजयी बन कर ही दम लेंगे। आप हौसला रखे और धैर्य रखे। भारत माता की जय’!   इसके अलावा एक अन्य ट्वीट कर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने पूर्व वित्त मंत्री जयंत मलैया को कोविड 19 के खिलाफ जंग में प्रधानमंत्री राहत कोष और मुख्यमंत्री राहत कोष में सहायता प्रदान करने के लिए आभार व्यक्त किया है। सीएम शिवराज ने ट्वीट कर लिखा ‘श्री @jayant_malaiya जी, आपको, पूज्य पिताजी और पूरे परिवार को धन्यवाद! सबके सहयोग से ही देश और प्रदेश को #COVID19 के विरुद्ध युद्ध में विजय मिलेगी। बहुत - बहुत आभार!  

Dakhal News

Dakhal News 10 April 2020


bhopal, Kamal Nath ,wrote a letter, Union Agriculture Minister, demanding approval

भोपाल। मध्य प्रदेश में कोरोना संकट के बीच पत्राचार की राजनीति भी खूब चल रही है। मप्र के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ कोरोना महामारी के चलते हो रही परेशानियों को लेकर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को पत्र लिखकर मांगे कर रहे है। वहीं अब कमलनाथ ने केन्द्रीय कृषि मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर को पत्र लिखकर किसान हित में मप्र के किसानों से चना, मसूर व सरसों को समर्थन मूल्य पर खरीदने की स्वीकृति देने की मांग की है।    कमलनाथ ने अपने पत्र में लिखा है कि मप्र सहित संपूर्ण भारत देश कोरोना महामारी की चपेट में है। निरंतर लॉकडाउन से समाज के प्रत्येक वर्ग की आजीविका पर बहुत प्रतिकूूल प्रभाव पड़ा है, पर सरकार इसके लिए चिंतित दिखाई नहीं देती। वर्तमान में सबसे ज्यादा तनाव में हमारे प्रदेश के किसान है जिनकी रबी की फसल कट कर तैयार है पर मप्र सरकार ने समर्थन मूल्य पर खरीदी, जो 25 मार्च से ही शुरू करनी थी, अब तक प्रारंभ नही की है और न ही प्रदेश सरकार की भविष्य की कोई तैयारी दिखाई दे रही है। अब किसान प्रतीक्षा नहीं कर सकता। उसके पास भंडारण की कोई व्यवस्था भी नहीं है। वो जैसे तैसे अपनी फसल काटकर अपने घरों के आसपास खुले में रख रहा है।    आगे अपने पत्र में कमलनाथ ने लिखा है कि आपको पत्र लिखने का विशेष उद्देश्य यह है कि आपका 5 अप्रैल 2020 का ट्वीट देखकर मैं बेहद चिंतित हूं, जिसमें आपने कुछ राज्यों में समर्थन मूल्य पर चना और मसूर खरीदने की सैद्धान्तिक स्वीकृति प्रदान करने का उल्लेख किया है पर उन राज्यों में मप्र का उल्लेख नहीं है। मप्र के लगभग 4.64 लाख किसानों ने चना, 1.14 किसानों ने मसूर तथा 1.05 लाख किसानों ने सरसों को समर्थन मूल्य पर विक्रय करने के लिए पंजीयन कराया है। मप्र को इस निर्णय में समाहित ना करने से प्रदेश के चना, मसूर और सरसों उत्पादन करने वाले किसान बहुत तनाव में है।    सीएम शिवराज सिंह चौहान पर निशाना साधते हुए कमलनाथ ने पत्र में लिखा है कि मैं हतप्रभ हूं कि मप्र के मुख्यमंत्री किसानों की फसल को समर्थन मूल्य पर खरीदने में कोई तत्परता नहीं दिखा रहे है और केन्द्र सरकार के निर्णय से प्रदेश के किसानों को हो रहे नुकसान पर मौन रखे हुए है। मप्र सरकार किसान भाइयों को केन्द्र सरकार से लाभ दिलाने हेतु कोई भी सार्थक पहल करती नहीं दिख रही हैं। अत: आपसे मेरा आग्रह है कि मप्र के किसानों से भी चना, मसूर और सरसों को समर्थन मूल्य पर खरीदने की स्वीकृति जारी करने का कष्ट करें ताकि मप्र के किसान भाई भी तनावमुक्त होकर जीवनयापन कर सकें। 

Dakhal News

Dakhal News 7 April 2020


bhopal,Former minister ,took pledge , distribute one time meal, poor

भोपाल। भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने भाजपा के 40वें स्थापना दिवस पर पार्टी कार्यकर्ताओं से लॉकडाउन के दौरान प्रतिदिन एक समय भोजन करने और एक समय का भोजन गरीबों में वितरित करने की अपील की है। कांग्रेस के नेता भी अपनी दिनचर्या में परिवर्तन कर रहे हैं और लॉकडाउन के दौरान कुछ इसी तरह की जीवनशैली को अपना रहे हैं। पूर्व मंत्री और कांग्रेस विधायक पीसी शर्मा ने भी एक समय का भोजन गरीबों में वितरित करने का संकल्प लिया है।    मंगलवार को पीसी शर्मा ने मीडिया से बातचीत करते हुए बताया कि उन्होंने भी संकल्प लिया है कि वे लॉक डाउन में परिवार के साथ प्रतिदिन एक टाइम भोजन करेंगें और एक समय का भोजन गरीबों में वितरित करेंगे। इस दौरान पीसी शर्मा ने प्रदेश में बढ़ रहे कोरोना संक्रमण और मरीजों की संख्या में बढ़ोत्तरी पर सरकार से कोरोना की जांचे ज्यादा कराने की मांग की है। इसके साथ ही पूर्व मंत्री पीसी शर्मा ने प्रदेश सरकार से गरीबों के भोजन के लिए अपने विधानसभा क्षेत्र में रसोई चालू करन और गरीब बस्तियों को सेनेटाइज करने की मांग भी उठाई है। 

Dakhal News

Dakhal News 7 April 2020


bhopal, Corona report , constable posted ,created , positive department

भोपाल। मध्य प्रदेश में कोरोना का कहर बढ़ता ही जा रहा है। प्रदेश में कोरोना संक्रमण के सबसे ज्यादा मामले इंदौर में देखने को मिले है। वहीं अब राजधानी भोपाल मे भी कोरोना वायरस तेजी से पैर पसारता जा रहा है। हेल्थ कॉरपोरेशन में पदस्थ आईएएस अधिकारी के बाद ऐशबाग थाने में पदस्थ कांस्टेबल के कोरोना पॉजिटिव होने के बाद हडक़ंप मच गया है। इसके साथ ही राजधानी में कोरोना मरीजों की संख्या बढक़र 15 हो गई।   जानकारी अनुसार कोरोना पॉजिटिव कांस्टेबल टीटी नगर थाने के पास स्थित मल्टी में अपने परिवार के साथ रहते हैं। कांस्टेबल की रिपोर्ट पॉजिटिव आने की जानकारी मिलते ही उनके सीधे संपर्क में आने वाले 12 पुलिसकर्मियों को तत्काल छुट्टी पर भेज दिया गया है। वही तीन और इलाके कंटेनमेंट किए गए है। कोरोना पॉजिटिव मरीज मिलने के बाद इन इलाकों को भी कंटेनमेंट घोषित कर दिया गया है। जहांगीराबाद स्थित बड़वाली मस्जिद, टीटी नगर थाने के पास स्थित पुलिस आवास और त्रिलंगा की फॉच्र्यून प्राइड कॉलोनी को एपीसेंटर घोषित किया गया है। आसपास के एक किलोमीटर एरिया को कंटेनमेंट एरिया बनाया है। ऐसे में इन इलाकों में रहने वाले ढाई हजार ज्यादा लोगों की आवाजाही पर रोक लगा दी गई है।    बता दें कि आईएएस अधिकारी के बाद ऐशबाग थाने में पदस्थ कांस्टेबल, आर्मी मैन के अलाना चार जमाती असदउल्ला, नसीम अहमद, मो. हमदी व मो. अरशद शुक्रवार को कोरोना पॉजिटव पाए गए हैंं। ये जमाती 24 जनवरी से बड़वाली मस्जिद में रुके हुए थे। इससे पहले वे शहर की दूसरी मस्जिदों में भी गए थे। उल्लेखनीय है कि मध्यप्रदेश में शुक्रवार को देर रात तक कोरोना के 41 नए मरीज मिले। सबसे ज्यादा इंदौर में 23, मुरैना में 12, भोपाल में छह तथा उज्जैन और जबलपुर में एक-एक कोरोना पॉजिटिव मिले हैं।  इन्हें मिलाकर मध्यप्रदेश में कोरोना संक्रमित मरीजों का आंकड़ा 161 पहुंच गया है। इनमें इंदौर में 112, मुरैना 12, भोपाल 15, जबलपुर 9, उज्जैन 7, ग्वालियर-शिवपुरी 2-2 और खरगौन-छिंदवाड़ा में एक-एक मरीज शामिल हैं। इनमें से अब तक नौ लोगों की मौत हो चुकी है, जिनमें इंदौर में पांच, उज्जैन में दो तथा खरगौन व छिंदवाड़ा के एक-एक मरीज शामिल हैं। यहां आंकड़ा स्‍वास्‍थ्‍य विभाग के जारी हेल्‍थ बुलेटिन का है। इसके बाद आज सुबह छिंदवाड़ा और इंदौर में कोरोना संक्रमण से एक-एक व्‍यक्‍ति की मौत हो चुकी है। वहीं भोपाल से लेकर पूरे राज्‍य के कोरोना मरीजों के आंकड़े में भी इजाफा हुआ है।यहां अकेले इंदौर में ही संक्रमितों की संख्‍या 115 पर पहुंच गई है।     

Dakhal News

Dakhal News 4 April 2020


bhopal, Digvijay Singh wrote letter, Prime Minister, demanding health insurance

भोपाल। पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने कोरोना से सीधी लड़ाई लड़ रहे सभी कर्मचारी-अधिकारियों को 50 लाख का स्वास्थ्य बीमा दिए जाने को लेकर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को पत्र लिखा है। राज्यसभा सांसद एवं पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने प्रधानमंत्री को पत्र लिखकर कोरोना से लड़ रहे स्वास्थ्यकर्मियों और सफाईकर्मियों को तीन महीने तक 50 लाख रुपए का स्वास्थ्य बीमा देने की सराहना करते हुए कोरोना उपचार में संलग्न अस्पतालों के फार्मेसी कर्मचारियों, लेब तकनीशियन और कोरोना से मैदान में सीधी लड़ाई लड़ रहे प्रशासनिक और पुलिस के अधिकारी-कर्मचारियों को भी 50 लाख रुपए का स्वास्थ्य बीमा दिए जाने का प्रधानमंत्री से आग्रह किया है।   दिग्विजय सिंह ने अपने पत्र में लिखा है कि देश में व्याप्त कोरोना महामारी और उससे उत्पन्न संकट से निपटने के लिए देश का हर नागरिक अपना अपना योगदान दे रहा है, लेकिन जो लोग स्वयं के जीवन को दांव पर लगाते हुए योद्धाओं की तरह मैदान में आकर इस महामारी से दिन रात लड़ रहे है, उनका कार्य किन्ही देवदूतों से कम नहीं ऑका जा सकता। आगे अपने पत्र में दिग्विजय सिंह ने कहा है कि सरकार ने जोखिम में रहकर कार्य करने वाले इन योद्धाओं में से डॉक्टर और नर्सों सहित सभी चिकित्साकर्मियों, सफाईकर्मियों और आशा कार्यकर्ताओं को तीन महिनों के लिए 50 लाख  रुपए की स्वास्थ्य बीमा सुरक्षा प्रदान की गई है। निश्चय ही यह प्रशंसनीय है किन्तु कोरोना का उपचार कर रहे सरकारी और नीजि अस्पतालों में काम करने वाले फार्मासिस्ट, कोरोना जांच के लिए अधिकृत सरकार एवं निजी लेबोरेटरीज में जांच करने वाले लेब कर्मचारियों, कोरोना संकट के समय रात दिन ड्यूटी करने वाले प्रशासनिक और पुलिस के अधिकारी कर्मचारियों को उक्त स्वास्थ्य बीमा सुरक्षा के दायरे में नहीं रखा गयाहै। दिग्विजय ने प्रधानमंत्री मोदी से अनुरोध किया है कि कोरोना से मैदान में उतरकर सीधी जंग लड़ रहे फार्मासिस्टों, लेब कर्मचारियों और प्रशासनिक तथा पुलिस अधिकारियों और कर्मचारियों को भी 50 लाख का स्वास्थ्य बीमा प्रदान करने हेतु आवश्यक निर्देश प्रदान करने का कष्ट करें। कोरोना के खिलाफ देश की इस जंग में हम सब साथ है और मेरा विश्वास है कि पूरा देश मिलकर इस महामारी पर जल्दी ही विजय प्राप्त कर लेगा। 

Dakhal News

Dakhal News 4 April 2020


bhopal, Parliamentarian Nakulnath ,expressed concern , corona infected patient

भोपाल। मध्य प्रदेश में कोरोना तेजी से पैर पसारता जा रहा है। पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ के क्षेत्र छिंदवाड़ा में भी कोरोना संक्रमण के मामले सामने आ रहे है। यहां पिछले 48 घंटे में दो लोगों को कोरोना पॉजिटिव पाया गया है। जिसमें से एक की शनिवार सुबह मौत हो गई। दोनों ही कोरोना पॉजिटिव मरीज पिता- पुत्र थे। छिंदवाड़ा में कोरोना संक्रमित मरीज मिलने पर सांसद नकुलनाथ चिंता जताई है और प्रशासन को जरुरी दिशा निर्देश दिए है।    छिंदवाड़ा सांसद नकुलनाथ ने शनिवार को ट्वीट कर प्रदेश में तेजी से फैल रहे कोरोना संक्रमण पर चिंता जाहिर करते हुए लोगों से घरों में रहने की अपील की है। सांसद नकुलनाथ ने ट्वीट कर लिखा ‘देश एवं प्रदेश में कोरोना संक्रमण तेजी से फैल रहा है और इससे हमारा छिंदवाड़ा भी अछूता नहीं है पिछले 48 घंटों में 2 मरीजों कोरोना संक्रमित मिलना और उसमे से 1 की मौत होना चिंताजनक स्थिति है। मेरे द्वारा प्रशासन को जरूरी दिशा निर्देश दिए गए हैं। इस महामारी से लडऩे के लिए जिले में संसाधनों की कमी नहीं होने दी जाएगी। मेरा आप सभी से अनुरोध है आप सभी घर पर रहे और सुरक्षित रहे हमारी सतर्कता और संयम ही इस महामारी को रोक सकते हैंं। मैं हर परिस्थिति में आपके साथ हूं।  

Dakhal News

Dakhal News 4 April 2020


bhopal, Jeetu Patwari, became president ,media department , state Congress

भोपाल। पिछले कुछ समय से खाली चल रहे प्रदेश कांग्रेस मीडिया विभाग के अध्यक्ष पद पर नई नियुक्ति हो गई है। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने पूर्व मंत्री व राऊ विधायक जीतू पटवारी को इस पद पर नियुक्त किया है।    कमलनाथ सरकार में उच्च शिक्षा मंत्री रहे जीतू पटवारी को प्रदेश कांग्रेस के मीडिया विभाग का अध्यक्ष नियुक्त किया है। उनकी नियुक्ति का आदेश पूर्व मुख्यमंत्री व प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने जारी किया है। उनसे पहले शोभा ओझा मीडिया विभाग की अध्यक्ष थीं, लेकिन उनकी नियुक्ति राज्य महिला आयोग में किए जाने के बाद उन्होंने यह पद छोड़ दिया था। उसके बाद से ही मीडिया विभाग के अध्यक्ष का पद खाली था। जीतू पटवारी की इस पद पर नियुक्ति की जानकारी प्रदेश कांग्रेस ने गुरुवार को ट्वीट करके दी है और उन्हें इस नियुक्ति पर शुभकामनाएं भी दी हैं।  

Dakhal News

Dakhal News 2 April 2020


bhopal, Former Chief Minister, Kamal Nath, Ram Navami

भोपाल। आज यानि गुरुवार को रामनवमी का पर्व कोरोना महामारी के चलते सभी अपने घरों में पूजा अर्चना कर मना रहे है। मप्र के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने भी रामनवमी पर्व पर अपने निवास पर मां भगवती की पूजा अर्चना कर प्रदेशवासियों को शुभकामनाएं दी है और सभी के कल्याण की कामना की है।    पूर्व सीएम कमलनाथ ने ट्वीट कर रामनवमी पर पूजा की तस्वीरें साझा करते हुए सभी को पर्व की शुभकामनाएं दी है और कोरोना वायरस के कारण बनी इस संकट की घड़ी में सभी को आगे आकर गरीब और जरूरतमंदों की मदद का आग्रह किया है। कमलनाथ ने ट्वीट कर लिखा ‘समस्त देशवासियों को रामनवमी की हार्दिक शुभकामनाएं। रामनवमी के इस पावन पर्व पर मैं सभी सामाजिक संस्थाओं, संगठनों एवं गणमान्य जनों से अनुरोध करता हूँ कि संकट की इस घड़ी में गरीब-मजदूर वर्ग और जरूरतमंदों की हरसंभव सहायता करें। एक अन्य ट्वीट कर उन्होंने कहा ‘आज नवमी पूजन कर प्रदेशवासियों के सुख-कल्याण की कामना की। मप्र को जल्द ही सभी विघ्न-बाधाओं से मुक्ति मिलेगी और हम पहले की तरह तरक्की की राह पर होंगे। प्रदेश के कल्याण के लिये हवन-पूजन, आज प्रदेश की जनता के उत्तम स्वास्थ्य एवं सम्पूर्ण कल्याण की कामना के साथ पूजन किया। सर्वे भवन्तु सुखिन: सर्वे सन्तु निरामया:।   

Dakhal News

Dakhal News 2 April 2020


indore, no risk , infection ,Varayas

इंदौर। कोरोना वायरस से निपटने और इसकी रोकथाम के लिए सभी शासकीय विभाग के अधिकारी अपनी-अपनी जिम्मेदारी निभा रहे हैं। एक ओर जहां पुलिस जवान लगातार ड्यूटी कर रहे हैं तो वहीं डॉक्टर और स्वास्थ्य विभाग के साथ ही नगर निगम के भी अधिकारी-कर्मचारी दिन रात जुटे हुए हैं। ड्यूटी में लगे डाक्टर, कर्मचारियों और अन्य स्टाफ को कोरोना वायरस से बचाने के लिए एकेवीएन एंटी वायरस सूट बनवा रहा है। यह सूट एकेवीएन के जरिए अस्पतालों तक पहुंचाएंगे। एकेवीएन के एमडी कुमार पुरुषोत्तम ने बताया कि कोरोना वायरस से निपटने के लिए सभी अस्पतालों और स्वास्थ्य विभाग में कर्मचारी, डाक्टर और नर्स दिन-रात ड्यूटी में लगे हैं। सबसे ज्यादा संक्रमित होने का खतरा इन लोगों को है। अभी तक सारा स्टाफ मास्क और सेनिटाइजर से ही काम चला रहा है। जैसे-जैसे कोरोना वायरस का चरण बढ़ता जा रहा है, वैसे-वैसे खतरा भी बढ़ चला है। इससे निपटने के लिए एकेवीएन 5000 एंटी वायरस सूट तैयार करवा रहा है। पीथमपुर की कम्पनियों को एंटी वायरस सूट बनाने के आदेश दिए गए हैं।   इन एंटी वायरस सूट को सिर्फ एक बार ही उपयोग में लाया जा सकता है। इसे पहनने के बाद सिर से लेकर पैर तक पूरा शरीर ढंक जाता है, जिससे वायरस का खतरा नहीं रहता। मगर एक बार पहनने के बाद इसे दूसरी बार नहीं पहना जा सकता। जहां एकेवीएन अपने स्तर पर एंटी वायरस सूट बनवा रहा है, वहीं सांवेर रोड औद्योगिक क्षेत्र के उद्योगपतियों के संगठन एसोसिएशन ऑफ इंडस्ट्रीज मध्यप्रदेश ने भी 200 एंटी वायरस सूट बनवाए हैं, जो मुंबई से मंगाए जा रहे हैं। संगठन के अध्यक्ष प्रमोद डाफरिया के अनुसार मंगवाए जा रहे जो एंटी वायरस सूट दो क्वालिटी के हैं। इनकी कीमत 650 से 950 रुपए तक है। 

Dakhal News

Dakhal News 31 March 2020


indore, no risk , infection ,Varayas

इंदौर। कोरोना वायरस से निपटने और इसकी रोकथाम के लिए सभी शासकीय विभाग के अधिकारी अपनी-अपनी जिम्मेदारी निभा रहे हैं। एक ओर जहां पुलिस जवान लगातार ड्यूटी कर रहे हैं तो वहीं डॉक्टर और स्वास्थ्य विभाग के साथ ही नगर निगम के भी अधिकारी-कर्मचारी दिन रात जुटे हुए हैं। ड्यूटी में लगे डाक्टर, कर्मचारियों और अन्य स्टाफ को कोरोना वायरस से बचाने के लिए एकेवीएन एंटी वायरस सूट बनवा रहा है। यह सूट एकेवीएन के जरिए अस्पतालों तक पहुंचाएंगे। एकेवीएन के एमडी कुमार पुरुषोत्तम ने बताया कि कोरोना वायरस से निपटने के लिए सभी अस्पतालों और स्वास्थ्य विभाग में कर्मचारी, डाक्टर और नर्स दिन-रात ड्यूटी में लगे हैं। सबसे ज्यादा संक्रमित होने का खतरा इन लोगों को है। अभी तक सारा स्टाफ मास्क और सेनिटाइजर से ही काम चला रहा है। जैसे-जैसे कोरोना वायरस का चरण बढ़ता जा रहा है, वैसे-वैसे खतरा भी बढ़ चला है। इससे निपटने के लिए एकेवीएन 5000 एंटी वायरस सूट तैयार करवा रहा है। पीथमपुर की कम्पनियों को एंटी वायरस सूट बनाने के आदेश दिए गए हैं।   इन एंटी वायरस सूट को सिर्फ एक बार ही उपयोग में लाया जा सकता है। इसे पहनने के बाद सिर से लेकर पैर तक पूरा शरीर ढंक जाता है, जिससे वायरस का खतरा नहीं रहता। मगर एक बार पहनने के बाद इसे दूसरी बार नहीं पहना जा सकता। जहां एकेवीएन अपने स्तर पर एंटी वायरस सूट बनवा रहा है, वहीं सांवेर रोड औद्योगिक क्षेत्र के उद्योगपतियों के संगठन एसोसिएशन ऑफ इंडस्ट्रीज मध्यप्रदेश ने भी 200 एंटी वायरस सूट बनवाए हैं, जो मुंबई से मंगाए जा रहे हैं। संगठन के अध्यक्ष प्रमोद डाफरिया के अनुसार मंगवाए जा रहे जो एंटी वायरस सूट दो क्वालिटी के हैं। इनकी कीमत 650 से 950 रुपए तक है। 

Dakhal News

Dakhal News 31 March 2020


bhopal,Former Chief Minister, Kamal Nath ,wrote a letter, PM

भोपाल। पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को पत्र लिखा है। अपने पत्र में कमलनाथ ने देश के विभिन्न हिस्सों से अपने घर की ओर पलायन कर रहे मप्र समेत पूरे देश के गऱीब मज़दूरों व छात्रों की और ध्यान दिलाया है और उनके रहने- खाने व सकुशल वापसी के इंतजाम करने का आग्रह किया है। साथ ही उन्होंने कहा है कि एक कंट्रोल रूम बनाकर इस पर काम होना चाहिए।    प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को लिखे अपने पत्र में कमलनाथ ने लिखा है कि कोरोना महामारी से निपटने के लिए किए जा रहे प्रयासों के लिए हमके आपके साथ है और अपनी पूरी क्षमताओं के साथ इस विभीषिका के खिलाफ लड़ाई के लिए तैयार है। अपने पत्र में आगे कमलनाथ ने कहा है कि इस वक्त मप्र सहित समूचे भारत के विभिन्न राज्यों के पलायन करने वाले मजदूरों एवं छात्रों के सामने भीषण संकट खड़ा हुआ है। वे जहां रहते थे या काम करते थे  वहां उन्हें जीवन की बुनियादी सुविधाएं नहीं मिल पा रही है। ऐसे समय में वे अपने गांव-घर पहुंच कर सुरक्षित हो जाऐंगे। यहीं कारण है कि लाखों मजदूर और छात्र पैदल ही अपने घरों तक सैकड़ों मील पैदल चलकर पहुंचने की कोशिश कर रहे है। उनके पास खाने पीने का कोई साधन नहीं है। कई मॉएं अपने दूध पीते बच्चों को कंधे पर लेकर चल रही है। उनकी बेबसी देखकर असहनीय पीड़ा हो रही है।    कमलनाथ ने सरकार से आग्रह करते हुए कहा है कि केन्द्र सरकार तत्काल राज्य सरकारों से समन्वय स्थापित करके देश के सभी हिस्सों में प्रवासी मजदूरों और छात्रों को पहले भरोसा दिलाए कि वे जहां हैं उन्हें वहां कोई तकलीफ नहीं होगी और खाने पीने का इंतजाम किया जाएगा। इसके अलावा सोशल डिस्टेंसिंग के साथ उनके रहने और खाने के लिए स्कूलों और धर्मशालाओं का प्रङ्क्षध किया जाए। इस काम में जनप्रतिनिधि और सामाजिक संस्थाओं से मदद ली जाए। कमलनाथ ने प्रवासी मजदूरों और छात्रों की स्क्रीनिंग करने के साथ ही उन्हें घर तक पहुंचने के लिए परिवहन व्यवस्था करने और ऐसे लोगों को तीन माह का राशन और 7500 रुपए प्रतिमाह के हिसाब से आर्थिक सहायता करने का आग्रह किया है। अपने पत्र के अंत में कमलनाथ ने इस पूरी प्रक्रिया के लिए एक  सक्रिय नियंत्रण कक्ष हर राज्य में खाद्य असुरक्षा, भूखमरी और पलायन के प्रभावों को नियंत्रित करने के लिए बनाए जाने का आग्रह किया है।   

Dakhal News

Dakhal News 31 March 2020


indore, Two Corona patients, fled , MRTB Hospital , caught in Khajrana

इंदौर। एमआरटीबी अस्पताल में भर्ती कोरोना पॉजिटिव दो मरीज रविवार सुबह जब अस्पताल से गायब पाए गए तो अस्पताल सहित पुलिस और प्रशासन में हड़कंप मच गया। काफी मशक्कत के बाद इन दोनों मरीजों को खजराना इलाके से पकड़ा गया, जिसके बाद लोगों ने राहत की सांस ली। दोनों मरीजों को वापस अस्पताल में भर्ती कराया गया है। इस घटना को लेकर अस्पताल की व्यवस्थाओं पर भी सवाल उठ रहे हैं।एमआरटीबी अस्पताल के स्पेशल वार्ड में भर्ती कोरोना पॉजीटिव दो मरीज रविवार सुबह वार्ड से नदारद थे। पहले अस्पताल में ही मरीजों की खोजबीन की गई लेकिन जब वे कहीं नहीं मिले तो पुलिस और प्रशासन को सूचना दी गई। पहले से ही अलर्ट पर चल रही इंदौर पुलिस ने काफी मशक्कत के बाद दोनों मरीजों को शहर के खजराना क्षेत्र से पकड़ लिया। इसके बाद दोनों को फिर से अस्पताल में भर्ती कराया गया है। इस घटना को अस्पताल प्रशासन की बड़ी लापरवाही माना जा रहा है। यह सवाल भी खड़ा हो रहा है कि जब सड़कों पर जगह-जगह पुलिस लोगों को रोककर पूछताछ कर रही है, ऐसे में दो पॉजिटिव मरीज कैसे अस्पताल से भाग निकले।शनिवार को भी आधा घंटा वार्ड में घूमता रहा एक मरीज एमआरटीबी अस्पताल में बनाए स्पेशल वार्ड में भर्ती एक पॉजिटिव मरीज शनिवार को आधा घंटा तक बेरोकटोक अस्पताल परिसर में घूमता रहा। उस वक्त वहां दो दर्जन से ज्यादा लोग हंगामा कर रहे थे। मरीज भी इन्हीं में शामिल होकर अस्पताल की व्यवस्थाओं को कोसने लगा। कर्मचारियों ने उससे पूछताछ तो पता चला कि वह कोरोना पॉजिटिव है और स्पेशल वार्ड में भर्ती है। हंगामा होता देख वह भी बाहर निकल आया था। इतना सुनते ही वहां सन्नाटा छा गया। कर्मचारियों ने किसी तरह मरीज को वापस वार्ड में भिजवाया था।  

Dakhal News

Dakhal News 29 March 2020


bhopal, Digvijay statement,help people, trapped  lockdown

भोपाल। कोरोना के चलते देशभर में लगे लॉकडाउन ने आम जनजीवन को बुरी तरह से प्रभावित कर दिया है। मप्र में लॉकडाउन के चलते लोग राशन और खाने पीने की चीजों के लिए परेशान हो रहे है। वहीं दूसरे राज्यों में फंसे मप्र के लोगों के लिए भी कामधंधा बंद होने से घर वापसी चुनौती बन गई है। ऐसे में मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने प्रदेश सरकार से लोगों तक राशन और खाने पीने की चीजें पहुंचाने और दूसरे राज्यों में फंसे लोगों को वापस लाने की व्यवस्था करने का आग्रह किया है।    शनिवार रात दिग्विजय सिंह ने एक विडियो के माध्यम से मप्र सरकार से लोगों को राशन मुहैया कराने और अलग -अलग जगहों पर फंसे लोगों के वापस लौटने की व्यवस्था करने का आग्रह किया है। दिग्विजय ने कहा है कि पूरे भारतवर्ष में लॉकडाउन है। इन तीन दिनों में जो खास दिक्कत आ रही है कि वो यह है कि लोगों को राशन नहीं मिल पा रहा है। उनके खाने पीने की व्यवस्था नहीं हो पा रही है।    प्रदेश सरकार ने 23 मार्च को ही निर्णय ले लिया था, कि कंट्रोल की दुकानों से लोगों को तीन महिने का अनाज एडवांस में मिलना चाहिए, लेकिन कंट्रोल की दुकानों पर भी पर्याप्त अनाज नहीं है। इस कारण काफी दिक्कत आ रही है।    राज्य से बाहर परेशान हो रहे नागरिकों की मदद की अपील करते हुए दिग्विजय ने कहा कि दूसरी दिक्कत यह है कि कई लोग मप्र के बाहर दूसरे राज्यों में फंसे हुए है। अलग अलग स्थानों पर मेरे पास 60- 70 आवेदन आए है। उसमें करीब 100 मजदूर जैसलमेर में फंसे हुए है। मैं राजस्थान सरकार को वहां फंसे लोगों की मदद करने के लिए धन्यवाद देना चाहता हूं। लेकिन प्रदेश सरकार को इस बारे में पूरा प्रयास करना चाहिए बाहर फंसे लोगों को अपने गंतव्य स्थान पर पहुंचाने की। साथ ही यह ध्यान रहे कि उनका मेडिकल टेस्ट होना चाहिए। नेगिटिव रिपोर्ट आने पर घर भेजे और पॉजिटिव को यही क्वांरेटिन करें। उन्होंने कहा कि केन्द्र सराकर ने जो पैकेज दिया है, अच्छा है लेकिन उसे कार्यान्वित करने में तीन महिने का समय लगता है। ऐसे में मेरा आपसे आग्रह है कि लॉकडाउन में फँसे लोगों की मदद के लिए सरकार को ब्यूरोक्रेसी की पेचीदगियों से ऊपर उठकर काम करना होगा। 

Dakhal News

Dakhal News 29 March 2020


bhoapl, Party worker ,Dr Sahastrabuddhe , reach 45 lakhs ,affected people

भोपाल। केंद्रीय नेतृत्व ने हमें मध्यप्रदेश के 45 लाख अभावग्रस्त लोगों तक पहुंचने के लिए नौ लाख कार्यकर्ताओं की सूची बनाने के लिये कहा है, ताकि ये कार्यकर्ता कोरोना से लडऩे के क्रम में अभावग्रस्त परिवारों तक भोजन एवं अन्य सहायता पहुंचा सकें। मध्यप्रदेश मजबूत संगठन वाला प्रदेश है और मुझे आशा है कि हर जिले में शीघ्रातिशीघ्र ऐसे कार्यकर्ताओं की सूची तैयार कर ली जाएगी। यह बात भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व प्रदेश प्रभारी डॉ. विनय सहस्त्रबुद्धे ने शनिवार को प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदत्त शर्मा एवं पार्टी कार्यकर्ताओं से ऑडियो कांफ्रेंसिंग के दौरान कही। उन्होंने कहा कि केंद्रीय नेतृत्व की मध्यप्रदेश से अपेक्षाएं अधिक हैं और हमें ऐसे 9 लाख कार्यकर्ताओं की सूची तैयार करना है, जो 5-5 जरूरतमंद लोगों तक भोजन पहुंचा सकें। इस तरीके से हम 45 लाख लोगों तक पहुंचकर उन्हें भोजन और सहायता उपलब्ध करा सकेंगे। उन्होंने कहा कि यह काम हमें बिना भीड़ इक_ा किये करना है और इसके दौरान सोशल डिस्टेंसिंग तथा कोविड-19 से मुकाबले के लिये तय किए गए सतर्कता के मापदंडों के अनुसार करना है। उन्होंने कार्यकर्ताओं की सूची जितने जल्दी हो सके तैयार करने की बात कही, ताकि अभावग्रस्त लोगों तक जल्द से जल्द सहायता पहुंचाई जा सके।लक्ष्य हासिल करेंगे प्रदेश के कार्यकर्ता: विष्णुदत्त शर्माप्रदेश प्रभारी डॉ. विनय सहस्त्रबुद्धे एवं पार्टी कार्यकर्ताओं के साथ ऑडियो कांफ्रेंसिंग के दौरान प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदत्त शर्मा ने कहा कि मध्यप्रदेश में 56 जिले हैं और 9 लाख के हिसाब से प्रत्येक जिले में 16 हजार कार्यकर्ताओं की सूची तैयार की जाना है। यह सूची तैयार की जा रही है और हम पीडि़तों को राहत पहुंचाने के लिये पूरी ताकत से काम कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि हमें 45 लाख अभावग्रस्त लोगों तक पहुंचने का जो लक्ष्य दिया गया है, हम उस टारगेट को पूरा करेंगे और लोगों को यह अहसास कराएंगे कि इस मुसीबत के समय में भाजपा पूरी ताकत से आपके साथ खड़ी है।

Dakhal News

Dakhal News 28 March 2020


bhopal,  Former minister, present himself , Kamal Nath,press conference

भोपाल। पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ की आखिरी प्रेस कांफ्रेंस में मौजूद एक पत्रकार की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद वहां मौजूद पत्रकारों से लेकर अधिकारियों और नेताओं तक को चिंता में डाल दिया है। सभी पत्रकारों ने खुद को आईसोलेट कर लिया है और सावधानी बरत रहे हैं। वहीं अब कमलनाथ की प्रेस वार्ता में मौजूद पूर्व मंत्री और कांग्रेस विधायक सचिन यादव ने भी खुद को आईसोलेट कर लिया है।    पूर्व मंत्री सचिन यादव ने शनिवार को इस बारे में ट्वीट कर जानकारी दी है। साथ ही उन्होंने वहां मौजूद पत्रकारों और अन्य लोगों से भी सावधानी बरतने का आग्रह किया हैं। उन्होंने ट्वीट कर लिखा ‘20 मार्च को कमलनाथ जी की आयोजित प्रेसवार्ता में मौजूद एक पत्रकार साथी कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए हैं, इसीलिए सावधानी के तौर पर मैं सेल्फ़-आइसोलेशन में हूँ एवं पत्रकार साथियों से भी अनुरोध है अपना ख्याल रखें। मैं सरकार के सभी आवश्यक निर्देशों का पालन कर रहा हूँ और आप भी करें’।    उल्लेखनीय है कि कमलनाथ की प्रेस वार्ता में मौजूद ग्वालियर से कांग्रेस विधायक प्रवीण पाठक ने भी सावधानी के तौर पर पहले ही खुद को होम आइसोलेट कर लिया है। वहीं पूर्व पशुपालन मंत्री और भितरवार से कांग्रेस विधायक लाखन सिंह ने भी अपना मेडिकल चेकअप करवाया था। हालांकि डॉक्टर ने सब सामान्य बताया है। 

Dakhal News

Dakhal News 28 March 2020


Bhopal ,Assembly Principal Secretary, AP Singh, got himself quarantined

भोपाल। मध्यप्रदेश विधानसभा के प्रमुख सचिव अवधेश प्रताप (एपी) सिंह ने बुधवार को खुद को क्वॉरेंटाइन कराया है। वे 15 दिन के लिए होम आइसोलेशन में रहेंगे। उन्होंने यह कदम भोपाल में एक पत्रकार के कोरोना वायरस से संक्रमित पाये जाने के बाद उठाया है। यह जानकारी उन्होंने स्वयं मीडिया को दी। साथ ही उन्होंने लोगों से कोरोना संक्रमित पत्रकार के सम्पर्क में आने वाले लोगों से भी चेकअप कराने की अपील की है।उन्होंने बुधवार को एक सार्वजनिक सूचना जारी कर कहा है कि भोपाल में कोरोना पॉजीटिव पत्रकार गत 20 मार्च को विधानसभा सचिवालय आए थे। इस दौरान वे भी उनके संपर्क में आए थे और इसी वजह से उन्होंने खुद को क्वॉरेंटाइन करने का फैसला लिया है। उन्होंने सचिवालय के सभी अधिकारियों और कर्मचारियों से भी कहा है कि जो भी इन पत्रकार के संपर्क में आए हैं, वे सभी स्वयं को क्वॉरेंटाइन करें और मेडिकल चेकअप कराएं।उल्लेखनीय है कि बीते दिनों भोपाल की प्रोफेसर कॉलोनी में रहने वाली एक लड़की कोरोना पॉजिटिव पाई गई थी और उसके पिता पत्रकार हैं, जो 20 मार्च को पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ की प्रेस कॉन्फ्रेंस में शामिल हुए थे। पत्रकार भी कोरोना संक्रमित पाया गया है। मंगलवार को देर रात आई रिपोर्ट में इसकी पुष्टि हुई है। इसके बाद पूर्व सीएम कमलनाथ ने भी खुद को आइसोलेट कराया है। अब विधानसभा के प्रमुख सचिव ने भी खुद को होम आइसोलेट कराने की बात कही है और अन्य लोगों से चेकअप कराकर क्वॉरेंटाइन की अपील की है।

Dakhal News

Dakhal News 25 March 2020


bhopal,  CM review ,fight Corona together

भोपाल। देश के साथ-साथ मध्यप्रदेश में भी कोराना वायरस तेजी से फैल रहा है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बुधवार को वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से सभी जिला कलेक्टरों से रू-ब-रू होकर प्रदेश के हालातों की समीक्षा की। इस दौरान उन्होंने प्रदेशवासियों से अपील की है कि हम सभी को मिलकर कोरोना से लडऩा है और उसे हराना है। सीएम शिवराज सिंह चौहान ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये प्रदेश के सभी जिला कलेक्टरों से उनके जिलों की स्थिति के बारे में जानकारी और आवश्यक दिशा-निर्देश दिये। उन्होंने सभी जिला कलेक्टरों को लॉक डाउन और कफ्र्यू के दौरान जारी सभी निर्णयों को सख्ती से पालन करने का आदेश दिया। उन्होंने कहा कि सोशल मीडिया द्वारा भेजी जा रही सारी समस्याएं पर वह नजर रखे हुए हैं और वह इन समस्याओं को दूर करने के लिए प्रतिबद्ध भी हैं। उन्होंने कहा कि सारे प्रदेशवासियों को मिलकर कोरोना से लडऩा है।गौरतलब है कि प्रदेश के हर जिले में कफ्र्यू और लॉक डॉउन लगा हुआ है जिसका सख्ती से पालन किया जा रहा है। प्रशासन सडक़ों पर मुस्तैद है और लाउडस्पीकर के जरिए हर वक्त लोगों तक यह सूचना पहुंचाई जा रही है कि वे अपने घर से बाहर ना निकले। वहीं गरीबों एवं निर्धनों के लिए भोपाल और जबलपुर इलाके में मुफ्त राशन की व्यवस्था की गई है।

Dakhal News

Dakhal News 25 March 2020


bhopal,Chief Minister ,announced a package, assistance affected

भोपाल।मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान बुधवार को मंत्रालय से वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से सभी आयुक्तों, आई.जी., जिला कलेक्टरों, एस.पी., सीएमएचओ, नगर निगम आयुक्तों, नगर पालिका, सीएमओ से कोरोना वायरस की रोकथाम और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के 21 दिन के देशव्यापी लॉकडाउन के आह्वान के संबंध में चर्चा की। मुख्यमंत्री ने लॉकडाउन के कारण उत्पन्न होने वाली स्थिति और इससे प्रभावित वर्गों के लिये सहायता पैकेज की देने की बात की ।    उन्होने कहा कि प्रदेश के 46 लाख पेंशनर्स को 600 रु. प्रतिमाह सामाजिक सुरक्षा योजना अंतर्गत रुपए 275 करोड़ प्रतिमाह भुगतान किया जा रहा है। सभी प्रकार के सामाजिक सुरक्षा पेंशन, विधवा पेंशन, वृद्धा अवस्था पेंशन निराश्रित पेंशन इत्यादि का दो माह का एडवांस भुगतान किया जायेगा। संनिर्माण कर्मकार मंडल के अंतर्गत मजदूरों को लगभग 8.25 लाख रूपये की सहायता प्रति मजदूर 1000 रुपए के हिसाब से उपलब्ध करायी जायेगी। इसी प्रकार 2.20 लाख राशि सहरिया, बैगा, भारिया जनजातियों के परिवारों के खातों में दो माह की एडवांस राशि दो हजार रुपए भेजी जाएगी। कोरोना पॉजिटिव पाए जाने पर शासकीय हॉस्पिटल,मेडिकल कॉलेज में नि:शुल्क इलाज किया ही जायेगा साथ-साथ चिन्हित प्राइवेट मेडिकल कॉलेज,प्राइवेट हॉस्पिटल में भी‍ नि:शुल्क इलाज सभी वर्गों के लिए उपलब्ध रहेगा।    प्राइवेट अस्पतालों को आयुष्मान भारत में निर्धारित दरों के हिसाब से भुगतान किया जावेगा। ग्राम पंचायतों में पंच-परमेश्वर योजना की प्रशासनिक मद में राशि उपलब्ध है। इसे कोरोना के नियंत्रण तथा लॉकडाउन के कारण जहाँ भी लोगों को भोजन,आश्रय की व्यवस्था करना हो खर्च की अनुमति प्रदान की जा रही है। स्कूल बंद होने से मध्यान्ह भोजन योजना का लाभ बच्चों को नहीं मिल पा रहा है। अप्रैल 2020 तक का खाद्यान्न रिलीज किया जा चुका है। इसे अब पी.डी.एस. अन्तर्गत राशन दुकानों को उपलब्ध कराया जायेगा। इसके फलस्वरूप कुल 65 लाख 91 हजार विद्यार्थियों के खाते में मध्यान्ह भोजन की 156 करोड़ 15 लाख रूपए की राशि का वितरण किया जायेगा - प्राथमिक शालाओं के 60.81 लाख विद्यार्थियों को 155 रु. प्रति विद्यार्थी की दर से 94.25 करोड़ रुपये और माध्यमिक शाला के 26.68 लाख विद्यार्थियों को 232 रु. प्रति विद्यार्थी की दर से 61.90 करोड़ दिये जायेगे।     मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सभी संबंधित अधिकारियों को महत्वपूर्ण निर्देश दिये। उन्होने कहा कि जरूरी है कि लोग अपने घरों में रहें। भीड़-भाड़ न हो। सभी धार्मिक सामाजिक कार्यक्रम पूरी तरह बंद रहेंगे। सभी धार्मिक स्थानों को भी आम जनता के लिये बंद रखा जायेगा। जिला कलेक्टरों को निर्देश दिये कि वे स्थानीय धर्म गुरूओं से चर्चा करें।    मुख्यमंत्री के निर्देश     •मेले आदि का आयोजन भी अगले 21 दिनों तक पूरी तरह प्रतिबंधित रहेगा। सोशल डिस्टेंसिंग के मापदण्डों का सभी जगह गम्भीरता से पालन कराने के निर्देश दिये हैं।    • सामुदायिक निगरानी को बढ़ाया जाये जिससे बुखार सर्दी खांसी के मरीजों के बारे में जिला प्रशासन को तत्काल सूचना मिल सके।     • जिन मरीजों को सामान्य सर्दी खांसी और बुखार हो उन्हें जांच के बाद समाधान होने पर घर में ही दवा पहुंचाने के प्रयास करें। कलेक्टर इस कार्य के लिये मोहल्ले या वार्ड की स्वयंसेवी और सरकारी अधिकारियों और कर्मचारियों को भी आगे मदद के लिये प्रेरित करें।    • कॉल सेंटर को 24 घंटे सक्रिय रखा जाये। कॉल सेंटर से सूचना प्राप्त होने पर घर पर दवाई पहुँचाने की व्यवस्था सुनिश्चित की जाए।     • शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्रों में बड़ी संख्या में ऐसे लोग हो सकते है, जिन्हें लॉकडाउन के कारण भोजन की व्यवस्था करने में कठिनाई आ रही हो ऐसी स्थिति में स्वयं सेवी संस्थाओं आदि को प्रेरित कर भोजन के पैकेट बनवाये जाये एवं वितरण की व्यवस्था की जाये ताकि प्रदेश में कोई भी व्यक्ति भूखा न रहे।    • सभी आवश्यक सुविधाओं की उपलब्धता सुनिश्चित करें। दवाई की दुकान, किराने की दुकान एवं फल सब्जियों की दुकानों के सामने नगर निगम एवं नगर पालिका एवं ग्राम पंचायत के माध्यम से पेंट तथा चूने से निशान लगाये जाए, जिससे खरीदी करने वाले व्यक्ति आपस में सोशल डिस्टेंसिंग रख सके।     • ऐसी दुकान एवं संस्थाओं के खुले रहने का समय अधिक से अधिक हो ताकि किसी एक समय पर भीड़ लगने की संभावना कम हो।     • सुनिश्चित करें कि प्रदेश में माल परिवहन बिना बाधित हुए चलता रहें ताकि वस्तुओं की आपूर्ति में किसी प्रकार की कमी नहीं आवे। पैकेजिंग मटेरियल के परिवहन में भी बाधा नहीं आए। माल परिवहन से संबंधित वाहनों को चेक पांईट पर भी नहीं रोका जाये।    • सभी कलेक्टर यह सुनिश्चित करें कि अत्यावश्यक वस्तु एवं दैनिक उपयोगी एवं मार्केट में दवाई की सामान्य कीमत पर मिल सके। अधिक कीमतें वसूल करने की शिकायत प्राप्त होने पर कड़ी कार्यवाही की जावे।    • डॉक्टर, नर्स तथा आवश्यक कार्य करने वाले अमले को पर्याप्त सुरक्षा एवं आवश्यक सुविधा मिल सके, यह सुनिश्चित करें।     • समस्त संभागीय आयुक्तों का यह दायित्व है कि वे अपने सभी जिलों में समन्वय रखें। यदि आपूर्ति तथा लॉजिस्टिक्स की कोई समस्या है तो तत्काल अवगत करायें।     • उपभोक्ताओं के लिए आवश्यक सामग्री जैसे सब्जियाँ, किराना, दूध, फल आदि सामग्री निर्बाध रूप से उपलब्ध करायी जाये।     • सब्जी मंडियों में अनावश्यक भीड़-भाड़ ना हो। वहाँ से केवल रिटेल व्यापारी ही सब्जियाँ खरीदें उपभोक्ता नहीं। अगर संभव हो तो उन्हें फैला दें। वरिष्ठ अधिकारियों को जिम्मेदारी कोरोना नियंत्रण हेतु राज्य पर अपर मुख्य सचिव एवं प्रमुख सचिव स्तर के अधिकारियों के चार वर्टिकल बनाए गए है    :1. दवाओं, उपकरणों एवं चिकित्सा सामग्री की सप्लाई -  फैज अहमद किदवई, प्रमुख सचिव    2. इलाज एवं अस्पताल प्रबंधन -  संजय शुक्ला, प्रमुख सचिव    3. कॉल सेंटर एवं एम्बुलेंस सेवायें -  बी. चन्द्रशेखर एवं  नन्दकुमारम    4. अत्यावश्यक वस्तुओं एवं सेवाओं की पूर्ति तथा समन्वय -  आई.सी.पी. केशरी,    अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य विभाग की ओर से संपूर्ण समन्वय डॉ. पल्लवी जैन गोविल द्वारा किया जा रहा है। इन सभी वर्टिकल से संबंधित कोई भी समस्या आने पर कलेक्टर संबंधित अधिकारी से चर्चा कर समाधान कर सकते है। होम डिलेवरी, टेक होम एवं कोरियर सुविधाएँ चालू रहेगी, जिससे कम से कम लोग अपने घरों से बाहर आये और उन्हें घर पहुँच सेवा उपलब्ध हो सके।     किसानों को सुविधाएं फसल कटाई में लगे मजदूरों एवं हार्वेस्टर्स को आवश्यक सुविधा प्रदान की जाये ताकि फसल कटाई प्रभावित ना हों। हार्वेस्टर्स कभी भी न रोके जाये। किसानों को मंडी में एस.एम.एस. से बुलाने एवं उपार्जन केंद्रों की स्थापना तथा मंडियों की व्यवस्था ऐसी हो जिसमें सोशल डिस्टेंसिंग मापदंडों का कड़ाई से पालन हो।    इस संबंध में आपसे पृथक से चर्चा की जावेगी। वे जिले, जहां रेल्वे के रेक पाईट है, वहाँ कार्य कर रहे हम्मालों एवं मजदूरों की भी मेडिकल स्क्रीनिंग करा ली जाये। यह सुनिश्चित करें कि रैक समय पर खाली हो ताकि प्रदेश में खाद, बीज, यूरिया आदि की कमी ना हो। प्रदेश के प्राइवेट अस्पतालों एवं नर्सिंग होम्स को भी कोरोना के विरूद्ध लड़ाई के अभियान में जोड़ा जाये।    विदेश से आने वाले एवं अन्य राज्यों से यात्रा कर आये नागरिकों,यात्रियों की शत प्रतिशत पहचान एवं स्क्रीनिंग की जाये। मेडिकल मोबाइल यूनिट, रैपिड रिस्पाँस टीम को पूरी तरह तैयार एवं सक्रिया रखा जाये। पेयजल एवं बिजली की आपूर्ति अबाधित रखी जावे। आइसोलेशन वार्ड एवं आइसोलेशन सेंटर की पर्याप्त व्यवस्था की जावे। जिला कलेक्टरों को कोरोना की रोकथाम के लिए सभी आवश्यक कदम उठाने की पूरी छूट होगी। वे स्थानीय आवश्यकताओं के अनुसार तत्काल उचित निर्णय लें। राज्य सरकार उन्हें हर प्रकार की सहायता उपलब्ध करायेगी।  

Dakhal News

Dakhal News 25 March 2020


bhopal, Congress MLA ,SP ,BSP Independents,  trust vote, supported

भोपाल। एक दिन पुरानी शिवराज सरकार ने मंगलवार को राज्य विधानसभा में विश्वास मत हासिल कर लिया। इस दौरान कांग्रेस के विधायक जहां सदन से अनुपस्थित रहे, वहीं निर्दलीयों एवं सपा- बसपा विधायकों ने विश्वास मत का समर्थन किया।    राज्य विधानसभा में मंगलवार को शिवराज सरकार की ओर विश्वास प्रस्ताव पेश किया गया। इस प्रस्ताव पर कार्यवाहक विधानसभा अध्यक्ष जगदीश देवड़ा ने मतदान कराया। जैसी कि उम्मीद की जा रही थी, कांग्रेसी विधायक मतदान के समय अनुपस्थित रहे। वहीं, दिलचस्‍प बात यह रही कि सपा, बसपा और निर्दलीय विधायकों ने विश्‍वासमत के समर्थन में वोट किया। गौरतलब है कि समाजवादी पार्टी  के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष अखिलेश यादव ने कांग्रेस का समर्थन करने की बात कही थी। इसके बावजूद उनकी पार्टी के एकमात्र विधायक ने शिवराज सरकार के समर्थन में वोट किया। गौरतलब है कि राज्यपाल ने शिवराज सरकार को 15 दिनों में विश्वासमत हासिल करने का निर्देश दिया था, लेकिन सरकार ने मंगलवार को ही विश्वासमत हासिल कर लिया।    

Dakhal News

Dakhal News 24 March 2020


bhopal,  Former Chief Minister, Kamal Nath, reached  house , CM Shivraj Singh

भोपाल। मध्यप्रेदश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बहुमत साबित कर लिया है।  शिवराज चौथी बार मप्र के सीएम बन गए हैं। 112 सदस्यों के साथ शिवराज ने फ्लोर टेस्ट पास कर लिया है। निर्दलीय विधायकों ने भी सीएम शिवराज का समर्थन किया। बहुमत साबित करने के बाद पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ मंगलवार दोपहर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से मिलने उनके निवास पहुंचे। यहां सीएम शिवराज ने फूल देकर कमलनाथ का स्वागत किया। दोनों राजनेताओं के बीच कुछ देर बातचीत के बाद कमलनाथ वहां से रवाना हो गए।    सीएम शिवराज के घर से बाहर निकलने के बाद मीडिया से बातचीत करते हुए पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा कि  मैंने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से मुलाकात की है। सीएम से मुलाकात कर उन्हें भरोसा दिलाया है कि यह सरकार विकास के जो काम करेगी, हम उसमें उसके साथ हैं, यही हमारा लक्ष्य है। विधानसभा सत्र में कांग्रेस विधायकों की गैरहाजिरी पर कमलनाथ ने कहा कि विधानसभा सत्र को लेकर कांग्रेस विधायकों को जानकारी नहीं थी। सरकार को विश्वास मत हासिल करना औपचारिकता थी जो पूरी करनी थी। 

Dakhal News

Dakhal News 24 March 2020


bhopal,  PC Sharma, mocking democracy , difficult time

भोपाल। शिवराज सरकार ने मंगलवार को राज्य विधानसभा में विश्वास मत हासिल कर लिया है। इधर, विश्वासमत प्रस्ताव के सदन से अनुपस्थित रही कांग्रेस के विधायक और पूर्व मंत्री पी.सी शर्मा ने इसे प्रजातंत्र का मजाक बताया है।    कमलनाथ सरकार में जनसंपर्क मंत्री रहे पी सी शर्मा ने शिवराज सरकार द्वारा विश्वासमत हासिल किए जाने पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा है कि ऐसे समय में जबकि कोरोना वायरस का खतरा मंडरा रहा है, ऐसे माहौल में शिवराज ने मुख्यमंत्री पद की शपथ ले ली और विधानसभा भी बुला ली। जबकि ऐसे कठिन हालात में सभी विधायक अपने-अपने क्षेत्र में हैं। उन्होंने कहा कि इतने कठिन समय में विधानसभा का ये सत्र बुलाना प्रजातंत्र का मज़ाक है।    पूर्व मंत्री शर्मा ने आरोप लगाया कि प्रदेश को दिल्ली से चलाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि जब जनता की मदद करने का वक्त था तब बीजेपी हार्स ट्रेडिंग करने में व्यस्त थी। अब अचानक मंगलवार को सत्र बुलाना प्रजातंत्र का मज़ाक है, इसीलिए कॉग्रेस आज की इस कार्यवाही में शामिल नहीं हुई। गौरतलब है कि कांग्रेस ने पहले ही विश्वास प्रस्ताव के बॉयकॉट की घोषणा कर दी थी। पार्टी का कहना था कि शिवराज सरकार को विधानसभा उपचुनाव के परिणाम आ जाने के बाद ही विश्वास मत हासिल करना चाहिए।  

Dakhal News

Dakhal News 24 March 2020


bhopal,  PC Sharma, mocking democracy , difficult time

भोपाल। शिवराज सरकार ने मंगलवार को राज्य विधानसभा में विश्वास मत हासिल कर लिया है। इधर, विश्वासमत प्रस्ताव के सदन से अनुपस्थित रही कांग्रेस के विधायक और पूर्व मंत्री पी.सी शर्मा ने इसे प्रजातंत्र का मजाक बताया है।    कमलनाथ सरकार में जनसंपर्क मंत्री रहे पी सी शर्मा ने शिवराज सरकार द्वारा विश्वासमत हासिल किए जाने पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा है कि ऐसे समय में जबकि कोरोना वायरस का खतरा मंडरा रहा है, ऐसे माहौल में शिवराज ने मुख्यमंत्री पद की शपथ ले ली और विधानसभा भी बुला ली। जबकि ऐसे कठिन हालात में सभी विधायक अपने-अपने क्षेत्र में हैं। उन्होंने कहा कि इतने कठिन समय में विधानसभा का ये सत्र बुलाना प्रजातंत्र का मज़ाक है।    पूर्व मंत्री शर्मा ने आरोप लगाया कि प्रदेश को दिल्ली से चलाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि जब जनता की मदद करने का वक्त था तब बीजेपी हार्स ट्रेडिंग करने में व्यस्त थी। अब अचानक मंगलवार को सत्र बुलाना प्रजातंत्र का मज़ाक है, इसीलिए कॉग्रेस आज की इस कार्यवाही में शामिल नहीं हुई। गौरतलब है कि कांग्रेस ने पहले ही विश्वास प्रस्ताव के बॉयकॉट की घोषणा कर दी थी। पार्टी का कहना था कि शिवराज सरकार को विधानसभा उपचुनाव के परिणाम आ जाने के बाद ही विश्वास मत हासिल करना चाहिए।  

Dakhal News

Dakhal News 24 March 2020


bhopal,  PC Sharma, mocking democracy , difficult time

भोपाल। शिवराज सरकार ने मंगलवार को राज्य विधानसभा में विश्वास मत हासिल कर लिया है। इधर, विश्वासमत प्रस्ताव के सदन से अनुपस्थित रही कांग्रेस के विधायक और पूर्व मंत्री पी.सी शर्मा ने इसे प्रजातंत्र का मजाक बताया है।    कमलनाथ सरकार में जनसंपर्क मंत्री रहे पी सी शर्मा ने शिवराज सरकार द्वारा विश्वासमत हासिल किए जाने पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा है कि ऐसे समय में जबकि कोरोना वायरस का खतरा मंडरा रहा है, ऐसे माहौल में शिवराज ने मुख्यमंत्री पद की शपथ ले ली और विधानसभा भी बुला ली। जबकि ऐसे कठिन हालात में सभी विधायक अपने-अपने क्षेत्र में हैं। उन्होंने कहा कि इतने कठिन समय में विधानसभा का ये सत्र बुलाना प्रजातंत्र का मज़ाक है।    पूर्व मंत्री शर्मा ने आरोप लगाया कि प्रदेश को दिल्ली से चलाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि जब जनता की मदद करने का वक्त था तब बीजेपी हार्स ट्रेडिंग करने में व्यस्त थी। अब अचानक मंगलवार को सत्र बुलाना प्रजातंत्र का मज़ाक है, इसीलिए कॉग्रेस आज की इस कार्यवाही में शामिल नहीं हुई। गौरतलब है कि कांग्रेस ने पहले ही विश्वास प्रस्ताव के बॉयकॉट की घोषणा कर दी थी। पार्टी का कहना था कि शिवराज सरकार को विधानसभा उपचुनाव के परिणाम आ जाने के बाद ही विश्वास मत हासिल करना चाहिए।  

Dakhal News

Dakhal News 24 March 2020


bhopal,  PC Sharma, mocking democracy , difficult time

भोपाल। शिवराज सरकार ने मंगलवार को राज्य विधानसभा में विश्वास मत हासिल कर लिया है। इधर, विश्वासमत प्रस्ताव के सदन से अनुपस्थित रही कांग्रेस के विधायक और पूर्व मंत्री पी.सी शर्मा ने इसे प्रजातंत्र का मजाक बताया है।    कमलनाथ सरकार में जनसंपर्क मंत्री रहे पी सी शर्मा ने शिवराज सरकार द्वारा विश्वासमत हासिल किए जाने पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा है कि ऐसे समय में जबकि कोरोना वायरस का खतरा मंडरा रहा है, ऐसे माहौल में शिवराज ने मुख्यमंत्री पद की शपथ ले ली और विधानसभा भी बुला ली। जबकि ऐसे कठिन हालात में सभी विधायक अपने-अपने क्षेत्र में हैं। उन्होंने कहा कि इतने कठिन समय में विधानसभा का ये सत्र बुलाना प्रजातंत्र का मज़ाक है।    पूर्व मंत्री शर्मा ने आरोप लगाया कि प्रदेश को दिल्ली से चलाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि जब जनता की मदद करने का वक्त था तब बीजेपी हार्स ट्रेडिंग करने में व्यस्त थी। अब अचानक मंगलवार को सत्र बुलाना प्रजातंत्र का मज़ाक है, इसीलिए कॉग्रेस आज की इस कार्यवाही में शामिल नहीं हुई। गौरतलब है कि कांग्रेस ने पहले ही विश्वास प्रस्ताव के बॉयकॉट की घोषणा कर दी थी। पार्टी का कहना था कि शिवराज सरकार को विधानसभा उपचुनाव के परिणाम आ जाने के बाद ही विश्वास मत हासिल करना चाहिए।  

Dakhal News

Dakhal News 24 March 2020


bhopal,Scindia supporters, should demand, PC Sharma , leader CM

भोपाल। मध्य प्रदेश में भाजपा ने कांग्रेस की सरकार गिराने में सफलता तो हासिल कर ली है, लेकिन अब पार्टी में अंदरुनी गुटबाजी का खतरा मंडराने लगा है। मुख्यमंत्री पद के लिए कई दावेदार सामने आने के साथ ही सिंधिया गुट के 22 विधायक भी शामिल होने से एक नया गुट बन गया है। इसके बाद अब भाजपा के लिए मुश्किलें बढ़ती नजर आ रही हैं। प्रदेश कांग्रेस के कार्यवाहक जनसंपर्क मंत्री पीसी शर्मा ने तंज कसते हुए कहा है कि भाजपा में गुटबाजी के चलते मुख्यमंत्री पद के लिए सहमति नहीं बन पा रही है।    भाजपा में मची खींचतान को लेकर पीसी शर्मा ने सोमवार को मीडिया से बातचीत में कहा कि भाजपा में पहले से 4- 6 गुट थे अब एक गुट और बढ़ गया है। जहां तक मैं समझता हूं कि यदि किसी पार्टी में गुट ज्यादा बन जाए तो तालमेल बैठना मुश्किल हो जाता है। अब आगे आगे देखिए क्या होता है। आगे सिंधिया का नाम लिए बिना उन पर निशाना साधते हुए पीसी शर्मा ने कहा कि समर्थकों को अब अपने नेता को मप्र का मुख्यमंत्री बनाने की मांग करनी चाहिए।     इसके अलावा कमलनाथ को नेता प्रतिपक्ष बनाए जाने के सवाल पर उन्होंने कहा कि हम हाईकमान से मांग करेंगे कि कमलनाथ को नेता प्रतिपक्ष बनाया जाए और उनके नेतृत्व में उपचुनाव लड़ा जाए। पीसी शर्मा ने कहा कि कमलनाथ कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष भी बने रहे। 

Dakhal News

Dakhal News 23 March 2020


bhopal, Kamal Nath, returning  Monday ,after meeting ,Sonia, Delhi

भोपाल। मध्य प्रदेश के कार्यवाहक मुख्यमंत्री कमलनाथ सोमवार को दिल्ली से वापस भोपाल लौट रहे है। कमलनाथ ने दिल्ली में कांग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात कर उन्हें प्रदेश की राजनीतिक परिस्थियों से अवगत कराया है। साथ ही उन्हें आश्वस्त किया है कि प्रदेश में कांग्रेस एकजुट होकर मुकाबला करेगी। इससे पहले कोरोना वायरस के चलते संभावना जताई जा रही थी कि कार्यवाहक मुख्यमंत्री कमलनाथ 24 की शाम या 25 की सुबह लौटेंगे।    कमलनाथ के मीडिया समन्वयक नरेन्द्र सलूजा ने सोमवार को जानकारी देते हुए बताया कि कार्यवाहक मुख्यमंत्री कमलनाथ आज सोमवार को ही भोपाल लौट रहे है। वे कोरोना वाइरस के संक्रमण व इसके लिये प्रदेश में उठाये जाने वाले एहतियातन आवश्यक क़दमो को लेकर अपने पूर्व निर्धारित कार्यक्रम से पहले ही आज भोपाल पहुँच रहे है। उन्होंने बताया कि दौरान कमलनाथ ने कांग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्षा सोनिया गांधी से आज नई दिल्ली में मुलाक़ात की। इस मुलाक़ात में उन्होंने प्रदेश की वर्तमान राजनैतिक परिस्थितियों से उन्हें अवगत कराया और बताया कि किस प्रकार प्रदेश में भाजपा ने प्रलोभन का खेल खेला, साजिश रच कांग्रेस की सरकार को गिराया। विधायकों को बेंगलुरु में बंधक बनाया। किस प्रकार अपने लोगों ने इस खेल में भाजपा का साथ दिया। उन्होंने सोनिया गांधी को इन सारी बातों से अवगत कराया।   कमलनाथ ने कांग्रेस की सरकार के 15 माह के प्रमुख कार्यों, जनहितैषी निर्णयों से भी उन्हें अवगत कराया और बताया कि हमारी सरकार द्वारा निरंतर प्रदेश की तस्वीर बदलने का काम किया जा रहा था। इसी से बौखलाकर व इसी के भय से भाजपा ने प्रदेश में यह खेल रचा। उन्होंने सोनिया गांधी को आश्वस्त किया कि प्रदेश के कांग्रेसजन एकजुट है। उनमें निराशा का भाव नहीं है और वे भाजपा की हर चुनौतियों का डटकर मुक़ाबला करेंगे। हम फिर लौटेंगे और मज़बूती व ताक़त से लौटेंगे।  

Dakhal News

Dakhal News 23 March 2020


sehore,Namami Devi Narmade,bathing on ghats, banned

सीहोर। कोरोना वायरस (कोविड-19) के संक्रमण को देखते हुए जहां देशभर में सावधानी बरती जा रही है, वहीं मध्‍यप्रदेश के अब तक भोपाल, जबलपुर , सिवनी, उज्जैन, ग्वालियर, बैतूल, छिंदवाड़ा, रीवा, बालाघाट , नरसिंहपुर , टीकमगढ़, रतलाम, मंदसौर, नीमच, होशंगाबाद , सागर, दमोह, छतरपुर, श्योपुर, शिवपुरी, भिंड, मुरैना, आलीराजपुर, गुना, विदिशा, रायसेन, सिंगरोली, सतना, राजगढ़, झाबुआ में लॉकडाउन किया जा चुका है। इसी के साथ आम जन के सुरक्षा के लिए किए जा रहे प्रयासों के बीच मध्यप्रदेश के सीहोर जिले में नर्मदा नदी के घाटों पर आगामी 31 मार्च तक के लिए स्नान पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। अब यहां समूह में ''नमामि देवी नर्मदे'' गान सुनने को नहीं मिलेगा ।    आधिकारिक जानकारी के अनुसार जिला कलेक्टर अजय गुप्ता ने 31 मार्च तक ज़िले के किसी भी घाट पर धार्मिक अथवा अन्य किसी भी कारण से किये जाने वाले स्नान पर प्रतिबंध लगाया है। यह प्रतिबंध नागरिकों के हित में कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए लगाया गया है।  गौरतलब है कि यहां पर अधिकांशत: सामान्‍य दिनों में भी नर्मदा किनारे के आंवली घाट पर श्रद्धालुओं की स्नान का पुण्‍य लाभ लेने की मंशा से भारी भीड़ होती है। जिसमें कि अब भीड़ के चलते कोराना वायरस के संक्रमण का खतरा सबसे अधिक है, इसलिए जिलाधीश द्वारा यह प्रतिबंध लगाया गया है। 

Dakhal News

Dakhal News 23 March 2020


sehore,

सीहोर। कोरोना वायरस (कोविड-19) के संक्रमण को देखते हुए जहां देशभर में सावधानी बरती जा रही है, वहीं मध्‍यप्रदेश के अब तक भोपाल, जबलपुर , सिवनी, उज्जैन, ग्वालियर, बैतूल, छिंदवाड़ा, रीवा, बालाघाट , नरसिंहपुर , टीकमगढ़, रतलाम, मंदसौर, नीमच, होशंगाबाद , सागर, दमोह, छतरपुर, श्योपुर, शिवपुरी, भिंड, मुरैना, आलीराजपुर, गुना, विदिशा, रायसेन, सिंगरोली, सतना, राजगढ़, झाबुआ में लॉकडाउन किया जा चुका है। इसी के साथ आम जन के सुरक्षा के लिए किए जा रहे प्रयासों के बीच मध्यप्रदेश के सीहोर जिले में नर्मदा नदी के घाटों पर आगामी 31 मार्च तक के लिए स्नान पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। अब यहां समूह में ''नमामि देवी नर्मदे'' गान सुनने को नहीं मिलेगा ।    आधिकारिक जानकारी के अनुसार जिला कलेक्टर अजय गुप्ता ने 31 मार्च तक ज़िले के किसी भी घाट पर धार्मिक अथवा अन्य किसी भी कारण से किये जाने वाले स्नान पर प्रतिबंध लगाया है। यह प्रतिबंध नागरिकों के हित में कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए लगाया गया है।  गौरतलब है कि यहां पर अधिकांशत: सामान्‍य दिनों में भी नर्मदा किनारे के आंवली घाट पर श्रद्धालुओं की स्नान का पुण्‍य लाभ लेने की मंशा से भारी भीड़ होती है। जिसमें कि अब भीड़ के चलते कोराना वायरस के संक्रमण का खतरा सबसे अधिक है, इसलिए जिलाधीश द्वारा यह प्रतिबंध लगाया गया है। 

Dakhal News

Dakhal News 23 March 2020


bhopal, Acting Chief Minister, Kamal Nath ,gave instructions

भोपाल। भोपाल विमान तल पर कोरोना वायरस के संदिग्ध मिलने पर कार्यवाहक मुख्यमंत्री कमलनाथ ने प्रदेश के मुख्य सचिव व डीजीपी से चर्चा कर तत्काल एहतियातन सभी आवश्यक कदम उठाने के निर्देश दिए है। उन्होंने निर्देशित करते हुए कहा है कि आवश्यक चीजों को छोडक़र जनता की सुरक्षा को देखते हुए भोपाल को लॉक डाउन किया जाए। यदि शुरुआत में ही सावधानी बरती जाए और इस बीमारी की रोकथाम के लिये आवश्यक कदम उठा लिये जाये तो इसे फैलने से रोका जा सकता है। जनता के स्वास्थ्य की सुरक्षा को देखते हुए तत्काल सभी आवश्यक इंतजाम किए जाये व आवश्यक कदम उठाये जावे।   सीएम कमलनाथ ने अपने निर्देश में कहा है कि इस संक्रामक बीमारी से लोगों को बचाने के लिए किसी भी प्रकार की कोताही नहीं बरती जाए। इस बीमारी से रोकथाम के लिए जनता में ज्यादा से ज्यादा जन जन जागरूकता के संदेश प्रसारित किए जाएं। भीड़भाड़ वाले क्षेत्र में जाने से जनता खुद को बचाये, खुद को ज्यादा समय घर में ही रखें। इस बीमारी से संदिग्ध व्यक्ति की जानकारी मिलते ही तुरंत सूचित करें। इस बीमारी से बचाव के लिए एहतियातन सभी आवश्यक कदम उठाएं, सावधानी से ही इस बीमारी से बचा जा सकता है।   छोटे खुदरा व्यापारियों के लिए चिंता जाहिर करते हुए कार्यवाहक मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा है कि मैं एक बार फिर दोहराता हुँ कि कोरोना वायरस के फैलाव को रोकने को लेकर सुरक्षा की दृष्टि से उठाये कदमों व निर्णयों से छोटे खुदरा व्यवसायियों व रोज कमाकर अपना जीवन यापन करने वालों के नुकसान को लेकर मैं बेहद चिंतित हूँ। उनके नुक़सान की भरपाई हो, उनके लिये राहत पैकेज का इंतज़ाम अगली सरकार करें। उन्होंने कहा है कि नोवल कोरोना वायरस से बचाव व सुरक्षा के लिये एहतियातन कई कदम उठाये जा रहे है व कई निर्णय लिये जा रहे है। जिसमें बाज़ार बंद, जनता कफ्र्यू, व्यावसायिक क्षेत्र बंद, कार्यालय बंद, जनता द्वारा ख़ुद को लॉक डाउन, आयोजन बंद, समारोह बंद जैसे निर्णय सावधानी बतौर लिये जा रहे है। इन निर्णयों से बड़े व्यवसायी तो एक बार ख़ुद को इस संकट से उबार लेंगे लेकिन वो गऱीब खुदरा -छोटे -मध्यम व्यवसायी, दिहाड़ी मज़दूर और वो व्यवसायी जो प्रतिदिन कमाकर अपना जीवन यापन करते है, घर चलाते है, उनको होने वाली आर्थिक क्षति को लेकर मैं बेहद चिंतित हूँ।    चूँकि एक कार्यवाहक मुख्यमंत्री के रूप में, अब मैं कोई नीतिगत निर्णय नहीं ले सकता हूँ, इसलिये मैं आगामी सरकार से ही उम्मीद कर सकता हूँ कि इन छोटे-छोटे व्यवसायियों को होने वाली आर्थिक क्षति व नुकसान की भरपाई वो आते ही करें। इनके लिये एक राहत पैकेज की घोषणा करें। क्योंकि उनके लिये यह दोहरी मार है। एक तरफ़ तो व्यवसाय चौपट दूसरा जीवन यापन के लिये आवश्यक ख़र्च का इंतज़ाम।कार्यवाहक मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा कि मुझे आशा व विश्वास है कि आने वाली सरकार छोटे-छोटे खुदरा व्यवसायियों, पान वाले, चाय वाले, ठेले वाले, गुमटी वाले, फुटपाथ पर व्यवसाय करने वालों, हॉकर बाज़ार में व्यवसाय करने वालों, छोटे होटल वाले, दिहाड़ी मज़दूर व प्रतिदिन कमाकर अपना जीवन यापन करने वाले इन लोगों के हितों की चिंता करेगी व इनके नुक़सान की भरपाई करेगी, इनके लिये एक सम्मानजनक राहत पैकेज की घोषणा करेगी।  

Dakhal News

Dakhal News 22 March 2020


sehore,MLA Sudesh Rai ,returns home daughter, son, daughter returned, abroad

सीहोर। वर्तमान में पूरा देश कोरोना वायरस से लड़ रहा है। विदेश यात्रा करके लौट रहे व्यक्तियों की जांच कर उन्हें आईसोलेट किया जा रहा है। सीहोर विधानसभा क्षेत्र के विधायक सुदेश राय ने रविवार को समाज को जागरूकता का संदेश देते हुए स्वयं जिला प्रशासन एवं स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को सूचना देकर अपने पुत्र एवं पुत्री के विदेश यात्रा से लौटने की सूचना देकर उन्हें होम आईसोलेशन कराया है। यह जानकारी मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. प्रभाकर तिवारी रविवार को मीडिया को दी। जिला प्रशासन एवं स्वास्थ्य विभाग ने उनके इस कदम का स्वागत करते हुए कहा है कि सभी नागरिक यदि परिवार से काई भी व्यक्ति विदेश यात्रा से लौटे है तो जिला प्रशासन तथा स्वास्थ्य विभाग को तत्काल सूचित करें तथा कम से कम 28 दिन तक उन्हें होम आईसोलेशन में रखें। किसी भी यात्रा को छिपाने का प्रसास न करें। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. प्रभाकर तिवारी ने बताया कि जिला प्रशासन ने चेतावनी देते हुए कहा है कि विदेश यात्रा अथवा कोरोना से संबंधित व्यक्ति से संपर्क छिपाने वाले व्यक्तियों के विरुद्ध पब्लिक हेल्थ एक्ट के तहत दण्डात्मक कार्यवाही भी की जा सकती है। 

Dakhal News

Dakhal News 22 March 2020


bhopal, Advocate General, Shashank Shekhar ,also resigned , MP was changed

भोपाल। मध्यप्रदेश में शुक्रवार को सत्ता परिवर्तन होने के बाद राज्य के महाधिवक्ता शशांक शेखर ने भी अपने पद से इस्तीफा दे दिया है।  महाधिवक्ता शशांक शेखर कमनलाथ के काफी नजदीकी माने जाते हैं और अब सत्ता परिवर्तन होने के बाद उन्होंने भी अपने पद से इस्तीफा दे दिया। उन्होंने शुक्रवार को प्रदेश के प्रमुख सचिव एम. गोपाल रेड्डी को अपना त्याग-पत्र भेज दिया है।

Dakhal News

Dakhal News 20 March 2020


shivpuri, Suspected death,rebel MLA ,Rathkheda daughter, family members,charge for murder

शिवपुरी। भाजपा नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया के समर्थक और कांग्रेस के बागी विधायक सुरेश राठखेड़ा की बेटी का शव शुक्रवार को संदिग्ध परिस्थितियों में ससुराल में फाँसी के फंदे पर लटका मिला है। सुरेश राठखेड़ा शिवपुरी जिले की पोहरी विधानसभा सीट से विधायक थे मध्यप्रदेश में चल रहे सियासी संकट के दौरान कांग्रेस से बगावत करके बेंगलुरु में ठहरे हुए थे। जिनका इस्तीफा बीती रात स्वीकार किया गया है। पूर्व विधायक सुरेश राठखेड़ा के बेटी ज्योति का शव राजस्थान के बासखेड़ा ग्राम में अपने ससुराल में फांसी के फंदे पर लटका मिला है। मामला हत्या का है या आत्महत्या का फिलहाल इसका खुलासा नही हुआ है।इस घटना के बाद राठखेड़ा परिवार पर दुखों का पहाड़ टूट पड़ा है।   राजस्थान में हुआ था विवाह-    इस्तीफा देने वाले विधायक के बेटी ज्योति का विवाह लगभग तीन साल पहले राजस्थान के बासखेड़ा माल निवासी चिकित्सा अधिकारी जय सिंह मेहता से हुई थी। केलवाड़ा पुलिस ने ज्योति का शव अपने कब्जे में ले लिया है और पोस्टमार्टम के लिए दिया गया है। घटना की जानकारी मिलते ही पूर्व विधायक सुरेश राठखेड़ा को विशेष प्लेन से बेंगलुरू परिवार के पास भेजा गया है। सुरेश राठखेड़ा को ज्योतिरादित्य सिंधिया का कट्टर समर्थक माना जाता है। हाल ही में जब सिंधिया ने सीएम कमलनाथ के प्रति विरोध जताया था तो उन्होंने खुलकर सिंधिया का समर्थन करते हुए कहा था कि सिंधिया यदि कांग्रेस से अलग होकर नई पार्टी बनाते हैं तो वे उसमें शामिल हो जाएंगे।   परिजनों ने लगाए हत्या के आरोप-   सुरेश राठखेड़ा की बिटिया का कोटा में निधन की जानकारी मिलने पर उन्हें विशेष बिमान के साथ बैंगलोर से झालाबाड भेजा गया। वहीं राठखेड़ा के भाई व अन्य परिजन मृतक बेटी के ससुराल पहुंचे और वहां पर उन्होंने अपनी बेटी की हत्या का आरोप ससुराल पक्ष पर लगाया।  इधर दूसरी ओर उनके परिजनों ने मृतिका का शव अपने शिवपुरी के राठखेड़ा गांव में ले जाने और यहीं पर अंतिम संस्कार की बात कही।

Dakhal News

Dakhal News 20 March 2020


bhopal, Rakesh Singh, statement ,happy day, people of the state

भोपाल। मध्य प्रदेश में मुख्यमंत्री कमलनाथ के इस्तीफे के बाद भाजपा के लिए सरकार बनाने का रास्ता साफ हो गया है। भाजपा खेमे में खुशी की लहर दौड़ पड़ी है। भोपाल में पार्टी मुख्यालय और पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह के आवास पर खुशी की लहर है।  दिल्ली में केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर के बंगले पर बैठकों का दौर जारी है। बैठक में ज्योतिरादित्य सिंधिया, केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान सहित बड़े नेता मौजूद हैं। मध्य प्रदेश में सरकार के गिरने के बाद सांसद राकेश सिंह ने बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा कि यह सरकार एक साल में ही आलोकप्रिय हो गई थी। हमने बार-बार कहा था कि इस सरकार के पास बहुमत नहीं है। जोड़-तोड़ की राजनीति से सत्ता में बने रहना चाहते थे।  शुक्रवार को मीडिया से बातचीत में राकेश सिंह ने कहा कि आज प्रदेश की जनता के लिए भी खुशी की बात है। भारतीय जनता पार्टी के मुख्यमंत्री उम्मीदवार को लेकर उन्होंने कहा कि पार्टी के शीर्ष नेतृत्व के निर्णय पर फैसला लिया जाएगा। जो भी आगे के काम होते हैं वह विधिवत रूप से पार्टी कर रही है। प्रदेश में 25 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव को लेकर उन्होंने दावा किया है कि भाजपा सभी 25 सीटों पर जीत दर्ज करेगी। 

Dakhal News

Dakhal News 20 March 2020


bhopal, Digvijay ,Kamal Nath, ruined Congress ,Betamoh

भोपाल। मध्य प्रदेश की सियासत में मचा घमासान तेज होता जा रहा है। कांग्रेस और भाजपा के नेता एक दूसरे पर आरोप प्रत्यारोप लगा रहे है। एक तरफ जहां कांग्रेस विपक्ष पर विधायकों को अगवा करने और सरकार को अस्थिर करने का आरोप लगी रही तो वहीं विपक्ष के निशाने पर सीएम कमलनाथ के साथ दिग्विजय सिंह भी आ गए हैं। दोनों राजनेताओं को लेकर मप्र के पूर्व मंत्री और भाजपा विधायक नरोत्तम मिश्रा ने बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा है कि दिग्विजय और कमलनाथ ने पुत्रमोह में कांग्रेस को बर्बाद कर दिया है।    गुरुवार को अपने निवास पर मीडिया से बातचीत करते हुए नरोत्तम मिश्रा ने सीएम कमलनाथ और दिग्विजय सिंह पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि कांग्रेस नेता सत्ता की लोलुपता से भरे हुए है। यहीं कारण है कि दिग्विजय सिंह और कमलनाथ पुत्र मोह के चक्कर में महाराज (ज्योतिरादित्य सिंधिया) से लड़े और पूरी कांग्रेस को साफ कर दिया। उन्होंने कहा कि दिग्विजय सिंह गए थे तब 15 साल कांग्रेस  सत्ता में नही आई और अब जो कमलनाथ ने जो किया तो इसके बाद 25 साल तक कांग्रेस प्रदेश की सत्ता में नहीं आ पाएगी। कांग्रेस द्वारा सरकार को बहुमत में बताए जाने पर नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि अगर बहुमत की सरकार है तो बहुमत सिद्ध कीजिये ।   बेंगलुरु में दिग्विजय सिंह के धरन पर बैठने और उपवास करने पर तंंज कसते हुए नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि अगर दिग्विजय सिंह को धरने पर बैठना ही है तो किसानों के कर्ज माफी, बेरोजगारों को रोजगार भत्ता, प्रदेश में हो रहे ट्रांसफर पोस्टिंग के विरोध में अगर उपवास पर बैठते तो शायद अच्छा होता। दिग्विजय सिंह को तो उन्हीं की पार्टी के लोग ही कह रहे हैं, कि सबसे बड़ा ब्लैकमेलर और माफिया कौन है। भाजपा पर संविधान की हत्या करने का आरोप लगाए जाने पर नरोत्तम ने कहा कि संविधान की हत्या करने वाले संविधान की बात कर रहे है, यह अच्छा नही है। इनके लिए दिग्विजय सिंह विषय का विषयांतर करते हैं।   वहीं वरिष्ठ कांग्रेस नेता और पूर्व विधायक मुकेश नायक द्वारा दिग्विजय पर लगाए गए आरोपों पर नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि दिग्विजय सिंह फेस सेविंग करते है। यह सभी कराधरा दिग्विजय सिंह का है। पूरे 22 विधायकों ने भी कहा कि सब करा धरा दिग्विजय सिंह का है। यह पहली बार नही की किसी कांग्रेस के नेता ने कहा हो इसके पहले उमंग सिंघार ने कहा था दिग्विजय के बारे में इस तरह की बातें कह चुके है।

Dakhal News

Dakhal News 19 March 2020


bhopal, sehore, Shivraj expressed hope, Supreme court decision

भोपाल/सीहोर। पूर्व मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान एवं पार्टी के 9 विधायकों द्वारा सुप्रीम कोर्ट में लगाई गई याचिका पर सुनवाई जारी है। इसी बीच पूर्व मुख्यमंत्री ने यह उम्मीद जताई है कि सुप्रीम कोर्ट का फैसला उनके पक्ष में ही आएगा।    पूर्व मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान और प्रदेश भाजपा अध्यक्ष वी.डी.शर्मा गुरुवार को पार्टी विधायकों से मिलने सीहोर के ग्रेसेस रिसॉर्ट पहुंचे। पार्टी के करीब 100 विधायक यहां पिछले चार दिनों से रुके हुए हैं। इस दौरान मीडिया से बातचीत करते हुए पूर्व मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने कहा कि हमें सुप्रीम कोर्ट पर पूरा भरोसा है और उम्मीद है कि कोर्ट का फैसला उनके ही पक्ष में आएगा। पूर्व मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि हमारे सभी विधायक स्वस्थ और प्रसन्न हैं और कोई भी विधायक तनाव में नहीं है। इस बीच रिसॉर्ट में रुके हुए विधायकों के बीच इस आशय की चर्चाएं चल रही हैं कि अगर सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के बाद फ्लोर टेस्ट और टलता है, तो विधायकों को किसी अन्य राज्य में भी शिफ्ट किया जा सकता है।

Dakhal News

Dakhal News 19 March 2020


bhopal, Minister PC Sharma, hearing , Supreme Court,full confidence, judiciary

भोपाल। मध्य प्रदेश का सियासी संग्राम सुप्रीम कोर्ट तक पहुंच गया है। गुरुवार को लगातार दूसरे दिन सुप्रीम कोर्ट में फ्लोर टेस्ट कराए जाने को लेकर सुनवाई चल रही है। मामले को लेकर प्रदेश सरकार के जनसंपर्क मंत्री पीसी शर्मा ने सुप्रीम कोर्ट पर भरोसा जताते हुए फैसला सरकार के पक्ष में आने का भरोसा जताया है।     गुरुवार को मीडिया से बातचीत करते हुए जनसंपर्क मंत्री पीसी शर्मा ने सुप्रीम कोर्ट में आज मप्र के मामले में हो रही सुनवाई पर कहाँ कि हमें न्यायपालिका पर पूरा भरोसा है और फैसला हमारे पक्ष में आएगा। उन्होंने कहा कि हमारी सरकार पूर्ण बहुमत में है और कांग्रेस की कमलनाथ सरकार निरन्तर प्रदेश के विकास के लिए तात्पर्य है। भाजपा को अगर लगता है तो वह विधान सभा में अविश्वास प्रस्ताव लायें। सीहोर के रिसोर्ट में ठहरे भाजपा विधायकों को लेकर मंत्री पीसी शर्मा ने कहा कि सिहोर के जिस होटल में भाजपा विधायक इकठ्ठा है ऊनके भी कोरोना टेस्ट होने चाहिए। वहीं भाजपा कार्यालय घेराव के बाद कांग्रेस कार्यकर्ताओं पर हुए एफआईआर पर मंत्री शर्मा ने कहा कि कांग्रेस का एक एक कार्यकर्ता मजबूत है।

Dakhal News

Dakhal News 19 March 2020


bhopal,Congress legislators,met the governor, submitted a memorandum

भोपाल। मध्य प्रदेश का सियासी ड्रामा हर पल बदल रहा है। बेंगलुुरु में बागी विधायकों से मिलने गए दिग्विजय समेत कांग्रेस नेताओं की गिरफ्तारी के बाद प्रदेश की सियासत गर्मा गई है। पक्ष और विपक्ष के एक दूसरे पर हमले तेज हो गए है। इन सब के बीच कांग्रेस विधायकों के दल ने बुधवार दोपहर राजभवन पहुंचकर राज्यपाल लालजी टंडन से मुलाकात की और बेंगलुरु में बागी विधायकों को मुक्त कराने के लिए ज्ञापन सौंपा।    कांग्रेस के करीब 70 विधायकों का दल बुधवार दोपहर बस में सवार होकर राजभवन पहुंचा। यहां विधायकों ने राज्यपाल से बेंगलुरु में दिग्विजय सिंह समेत कांग्रेस के मंत्री और विधायकों के साथ हुई अभद्रता की शिकायत राज्यपाल से की। साथ ही कांग्रेस नेताओं को बागी विधायकों से नहीं मिलने देने का आरोप लगाते हुए राज्यपाल से अपने संवैधानिक अधिकार का उपयोग कर बंधक विाायकों को भोपाल लाने के लिए ज्ञापन सौंपा।  राजभवन से बाहर आते हुए मंत्री प्रियवत सिंह ने मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि भाजपा द्वारा लोकतंत्र की हत्या की जा रही है। कांग्रेस के नेता विधायकों से मिलने बेंगलुरु गए थे लेकिन उनको मिलने नहीं दिया गया। अकेले दिग्विजय सिंह विधायकों से मिलने जाते, उनसे विधायकों को क्या खतरा हो सकता है। विधायकों द्वारा मिलने से इंकार किए जाने के संबंध में मंत्री प्रियवत सिंह ने कहा कि अगर उन्हें वोट न हीं देना है तो साफ मना कर दें। लेकिन उन्हें जो भी बात करनी है मप्र में आकर कहें।   

Dakhal News

Dakhal News 18 March 2020


sehore, Shivraj ,Digvijay Singh, very big drama

सीहोर। बेंगलुरु में बागी विधायकों से मिलने पहुंचे पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के धरने और भूख हड़ताल के एलान पर भाजपा नेताओं के बयान सामने आ रहे है। मप्र के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने दिग्विजय सिंह पर निशाना साधते हुए उन्हें बहुत बड़ा ड्रामेबाज बताया है। इससे पहले पूर्व मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने भी उन पर तंज कसते हुए कहा था कि कांग्रेस ने माचिस को आग बुझाने भेजा है, खुदा जाने आगे क्या होगा।    शिवराज सिंह चौहान ने बुधवार को सीहोर के ग्रेसिस रिसोर्ट में मीडिया से बातचीत करते हुए दिग्विजय सिंह पर जमकर हमला बोला। उन्होंने कहा कि दिग्विजय सिंह बहुत बड़े ड्रामेबाज हैं। कांग्रेस के विधायक कमलनाथ सरकार से कितने त्रस्त थे यह वो खुद ही वीडियो जारी करके बता रहे हैं और बोल रहे हैं कि हमें किसी से भी नहीं मिलना है। शिवराज ने सवाल पूछते हुए कहा कि जब विधायक मिलने से इंकार कर रहे हैं तब सीएम कमलनाथ को भी उनकी याद आ रही है। सवा साल से आप क्या कर रहे थे। अरे दु:ख में सुमिरन सब करें सुख में करे न कोए, जो सुख में सुमिरन करे तो दुख कहे को होए। तब उनकी सुनी नहीं।    शिवराज ने कमलनाथ सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि कांग्रेस ने जनता को त्रस्त और परेशान कर दिया, मप्र को भ्रष्टाचार का गढ़ बना दिया। प्रदेश को तबाह और बर्बाद कर दिया और अब मुख्यमंत्री हड़बड़ी में बात कर रहे है। आयोग के अध्यक्ष बना दो, कल तक कोई फैसला नहीं किया था। बड़े बड़े फैसले कर दो। जब कोई फौज हारकर पीछे लौटती है, तो जाते जाते कितना तबाह और बर्बाद कर देती है, वो आज मुख्यमंत्री कर रहे हैं।   शिवराज ने कहा कि सरकार द्वारा किस तरह हड़बड़ी में संवैधानिक पदों पर नियुक्ति हो रही है इस बारे में राज्यपाल को अवगत कराया है। कांग्रेस सरकार को अब इस तरह से बरगलाने वाले मामलें बचा नहीं सकते। कांग्रेस  ने प्रदेश को तबाही की कगार पर पहुंचा दिया है और अब उनके ही विधायक कह रहे है कि अब वे इस सरकार के साथ नहीं है।  

Dakhal News

Dakhal News 18 March 2020


bhopal, Narottam Mishra, took a pinch , Digvijay, sent matches to extinguish the fire

भोपाल। बेंगलुरु में कांग्रेस के बागी विधायकों से मिलने पहुंचे दिग्विजय सिंह के धरना देने और गिरफ्तारी के बाद बयानबाजी का दौर शुरू हो गया। एक ओर जहां कांग्रेस अपने नेताओं के साथ हुए व्यवहार को गलत ठहरा रही है तो वहीं भाजपा इसे नौटंकी बता रही है। इस पूरे घटनाक्रम पर मप्र के पूर्व मंत्री और भाजपा विधायक नरोत्तम मिश्रा का बड़ा बयान सामने आया है। उन्होंने दिग्विजय सिंह पर चुटकी लेते हुए कहा है कि कांग्रेस ने माचिस को आग बुझाने भेजा है, खुदा जाने अब आगे क्या होगा।    बुधवार को मीडिया से बातचीत में बेंगलुरु में दिग्विजय सिंह के धरना देने और विधायकों से मिलने की मांग पर नरोत्तम मिश्रा ने निशाना साधते हुए कहा कि अब आगे क्या होगा यह तो खुदा जाने। माचिस को भेजा है आग बुझाने। मिस्टर बंटाधार एक और पॉलिटिकल ड्रामा करने गए हैं, यह पहला मामला नहीं है। इससे पहले भी वह इस तरह से कई बार कर चुके हैं। नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि दिग्विजय गुरुग्राम भी गए थे, जब भी कांग्रेस के विधायकों ने कहा था किसी ने बंधक नहीं बनाया। बेंगलुरु के विधायक भी नहीं मिलना चाहते हैं, वो किसी के दवाब में नहीं हैं। मिस्टर बंटाधार कांग्रेस को खत्म करके ही मानेंगे।    सरकार द्वारा कैबिनेट बैठक करने और फैसले लिए जाने पर नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि कैबिनेट की बैठक ढोंग है, सरकार अपना बहुतमत खो चुकी है। प्रदेश के अल्पमत सरकार की कैबिनेट जो भी फैसले लेगी वह मान्य नहीं होगी। अगली सरकार सभी फैसलों की समीक्षा करेगी।

Dakhal News

Dakhal News 18 March 2020


bhopal,Digvijay,round of meetings,CM House, continued, we are ready ,face the motion , confidence

भोपाल। संकट के दौर से गुजर रही कमलनाथ सरकार इससे उबरने की हरसंभव कोशिश कर रही है। इसके लिए सीएम हाउस में बैठकों का दौर लगातार जारी है। मंगलवार को बेंगलुरु से बागी विधायकोंं द्वारा कमलनाथ सरकार पर गंभीर आरोप लगाए जाने और सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई के बाद आगे की रणनीति पर चर्चा के लिए सीएम हाउस में बैठक हुई।    बैठक में शामिल होने पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह उनके मंत्री पुत्र जयवर्धन सिंह समेत कई वरिष्ठ नेता और मंत्री मुख्यमंत्री निवास पहुंचे। सीएम हाउस में दिग्विजय सिंह की सीएम कमलनाथ से राजनीतिक हालातों पर चर्चा हुई। सीएम कमलनाथ से मुलाकात करने के बाद दिग्विजय सिंह ने मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि सुप्रीम कोर्ट से नोटिस मिला है। हम लोग अविश्वास प्रस्ताव को फेस करने के लिए तैयार हैं। दिग्विजय ने एक बार फिर 16 विधायकों को बंधक बनाकर रखने का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि अविश्वास प्रस्ताव पर स्पीकर निर्णय करेंगे। दिग्विजय ने कहा कि पहले यह बताया जाए कि 16 विद्यायक इतने दिनों से बेंगलोर में क्या कर रहे हैं।

Dakhal News

Dakhal News 17 March 2020


bhopal,Big statement ,former minister ,BJP has not passed, any no confidence motion

भोपाल। मध्य प्रदेश की राजनीति में इन दिनों भूचाल आया हुआ है। फ्लोर टेस्ट को लेकर राज्यपाल लालजी टंडन और मुख्यमंत्री कमलनाथ आमने सामने हो गए है। ऐसे हालातों में मध्य प्रदेश में राष्ट्रपति शासन लागू होने की आसार बढ़ गए है। राज्यपाल ने मुख्यमंत्री कमलनाथ ने एक बार फिर पत्र लिखकर फ्लोर टेस्ट करने को कहा था। जिसके जवाब में सीएम कमलनाथ ने राज्यपाल को पत्र लिखकर भाजपा द्वारा विधानसभा अध्यक्ष के सामने अविश्वास प्रस्ताव रखने की बात कही है। अब भाजपा की तरफ से पूर्व मंत्री और विधानसभा सचेतक नरोत्तम मिश्रा का बड़ा बयान सामने आया है। उन्होंने मुख्यमंत्री कमलनाथ के बयान को गलत बताते हुए भाजपा अविश्वास प्रस्ताव पारित किए जाने का खंडन किया है।    मंगलवार को मीडिया को जारी अपने बयान में पूर्व मंत्री और वरिष्ठ भाजपा विधायक नरोत्तम मिश्रा ने कहा है कि बहुत दुखद प्रसंग है। कल से मीडिया में सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई का मामला चल रहा है। लेकिन आज सुप्रीम कोर्ट ने भी कहा ना मुख्यमंत्री, ना विधानसभा अध्यक्ष और ना कोई सरकार का नुमाइंदा सुनवाई में पहुंचा। हैरानी की बात है वकील तक उपस्थित नही हुआ। उन्होंने कहा कि कांग्रेस किस तरह से रण छोड़ कर भाग रही है। ये इस बात का संकेत है कि जिस कोरोना ने दुनिया की सांसे अवरुद्ध कर रखी है, उसी में कांग्रेस अपनी सांसे ढूंढ रही है।   सीएम कमलनाथ द्वारा अविश्वास प्रस्ताव पर दिए बयान पर नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि सोमवार को मीडिया से चर्चा करते हुए सीएम ने कहा कि भाजपा ने अविश्वास प्रस्ताव पारित किया है, लेकि ऐसा कुछ भी नही है। ये शत प्रतिशत झूठ और गलत है। ये उनके भागने का प्रयास है। हमने महामहिम के सामने अपना पक्ष रख दिया है। वही मिश्रा ने आज बैंगलूरु में कांग्रेस के बागी विधायकों की प्रेसवार्ता को लेकर कहा कि मुख्यमंत्री और पूरी कांग्रेस कह रही थी कि भाजपा ने विधायकों को बंधक बनाकर रखा है। इसका उत्तर आज मिल गया। आज सभी मीडिया के सामने आ गए है। विधायकों ने साफ कहा कि मुख्यंमंत्री कमलनाथ छिंदवाड़ा तक ही सीमित है।   पूर्व मंत्री ने कहा कि इनकी आंखे छिंदवाड़ा में खुलती है। इनको सिर्फ छिंदवाड़ा और राजगढ़ की चिंता है। पुत्र मोह में प्रदेश डूब रहा है। एक तरफ कांग्रेस ने पुत्र मोह मे देश डूबा दिया, वही अब प्रदेश को डूबोया जा रहा है। उन्होंने कहा कि जब कांग्रेस के विधायक केन्द्रीय सुरक्षा की मांग कर रहे है तो क्यों सरकार उन्हें सुरक्षा उपलब्ध नही करवा रही। केन्द्र को पत्र लिखना चाहिए और विधायकों को सुरक्षा देना चाहिए। उन्होंने तो आज साफ कहा हमें केन्द्र से सुरक्षा मिलेगी, तभी हम भोपाल आएंगे। अगर इनके पास बहुमत है तो साबित करे। विधायकों को इन पर भरोसा नही। पूरी कांग्रेस गर्त में जा रही है। वही राज्यपाल के पत्र को लेकर कहा कि सरकार फ्लोर टेस्ट को लेकर बच रही है। यह बहुत ही गंभीर विषय है। राज्यपाल ने भावुक शब्दों में लिखा और फ्लोर टेस्ट की मांग की है। अब देखना है कि महामहिम आगे क्या फैसला लेते है।  

Dakhal News

Dakhal News 17 March 2020


sehore, BJP MLA, reached power center ,MP politics

सीहोर। मध्यप्रदेश की राजनीति का अब तक पॉवर सेंटर बने रहे जयपुर, भोपाल, बेंगलूरू और मानेसर की सूची में अब सीहोर का नाम भी जुड़ गया है। सोमवार की देर रात भारतीय जनता पार्टी के विधायक अचानक सीहोर पहुंच गए। जानकारी के अनुसार, मध्यप्रदेश में इन दिनों भारतीय जनता पार्टी और कांग्रेस के बीच शह और मात का खेल चल रहा है। अब तक तो भाजपा और कांग्रेस के विधायक हरियाणा, राजस्थान और कर्नाटक में रूकते रहे, लेकिन अब पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के गृह जिले सीहोर में भी विधायकों के रुकने के मुफीद हो गया। सोमवार देर रात्रि यहां स्लीपर कोच बसों से भारतीय जनता पार्टी के विधायक पहुंचे हैं। इससे पहले रविवार की रात्रि को भी ऐसी सूचना आई थी कि भारतीय जनता पार्टी के विधायक सीहोर आ सकते है तब पुलिस ने संभावित स्थानों की सुरक्षा बढ़ा दी थी। सोमवार को देर रात राजनैतिक हलचल अचानक तेज हुई और भारतीय जनता पार्टी के विधायक सीहोर पहुंच गए। ये विधायक इछावर रोड स्थित होटल ग्रेस (क्लार्क) पहुंचे हैं, जहां वे रात्रि विश्राम करेंगे। विधायकों के पहुंचने को लेकर प्रशासन ने जहां पुख्ता तौर पर सुरक्षा व्यवस्था के इन्तजाम किए हैं। 

Dakhal News

Dakhal News 17 March 2020


 bhopal,  BJP ,confidence motion,  prove majority, CM Kamanlath

भोपाल। मध्यप्रदेश में सोमवार को विधानसभा के बजट सत्र की जोरदार हंगामे के साथ शुरुआत हुई, लेकिन राज्यपाल के अभिभाषण के बाद कोरोना वायरस के संक्रमण के चलते सदन की कार्यवाही आगामी 26 मार्च तक के लिए स्थगित कर दी गई। हंगामे के चलते विधानसभा में फ्लोर टेस्ट नहीं हुआ। फ्लोर टेस्ट को विधानसभा की सोमवार की कार्यसूची में शामिल ही नहीं किया गया था। इसी बीच मुख्यमंत्री कमनलाथ का एक बड़ा बयान सामने आया है। उन्होंने कहा है कि भाजपा को लगता है कि उनके पास बहुमत है तो वह सदन में अविश्वास प्रस्ताव लाए, उन्हें किसी रोका नहीं है। हम अपना बहुमत साबित कर देंगे। मुख्यमंत्री कमनलाथ ने यह बातें विधानसभा की कार्यवाही स्थगित होने के बाद मीडिया से बातचीत में कही। उन्होंने कहा कि भाजपा पर आरोप लगाते हुए कहा कि उन्होंने हमारे विधायकों को बेंगलुरु में बंधक बनाकर रखा और उन्हें यहां आने नहीं दिया जा रहा है। भाजपा हमारी सरकार को अस्थिर करने की कोशिश में लगी है, लेकिन हमारे पास बहुमत है। अगर विधानसभा में फ्लोर टेस्ट होता है तो हम अपना बहुमत साबित करेंगे।इधर, भाजपा विधायक पहुंचे राजभवनविधानसभा का बजट सत्र शुरू होते ही मुख्य विपक्षी पार्टी ने सदन में फ्लोर टेस्ट की मांग रखी, लेकिन कांग्रेस के विधायकों ने विपक्ष के नेताओं को बोलने ही नहीं दिया और जोर-शोर से हंगामा शुरू कर दिया। विधानसभा अध्यक्ष एनपी प्रजापति द्वारा विधानसभा की कार्यवाही आगामी 26 मार्च तक स्थगित करने के बाद कांग्रेस विधायक और मंत्री सदन में अंदर और बाहर जोरदार नारेबाजी करते रहे, जबकि भाजपा विधायक करीब आधे घंटे चुपचाप सदन में बैठे रहे, इसके बाद सभी विधायक हम होंगे कामयाब गाना गाते हुए बसों में बैठकर राजभवन पहुंच गए।  बताया जा रहा है कि राजभवन में राज्यपाल के सामने विधायकों की परेड कराई जाएगी। भाजपा के मुख्य सचेतक डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि सरकार के पास बहुमत नहीं है। राज्यपाल के स्पष्ट निर्देशों के बावजूद फ्लोर टेस्ट नहीं कराया गया, हम सभी कानूनी पहलुओं पर विचार कर रहे हैं। मध्य प्रदेश में फ्लोर टेस्ट के लिए सुप्रीम कोर्ट जाएगी भाजपावहीं, विधानसभा से बाहर निकलने के बाद भाजपा विधायक अरविंद भदौरिया ने मीडिया से बातचीत में कहा कि कांग्रेस सरकार लोकतंत्र की हत्या कर रही है। हम राज्यपाल लालजी टंडन को स्थिति से अवगत कराने के लिए राजभवन जा रहे हैं। इसके बाद हम सुप्रीम कोर्ट की शरण में जाएंगे।

Dakhal News

Dakhal News 16 March 2020


bhopal,  106 MLA, BJP reached, Raj Bhavan ,after postponement , floor test

भोपाल। राज्य विधानसभा की कार्रवाई बिना फ्लोर टेस्ट कराए 26 मार्च तक स्थगित किये जाने के बाद सोमवार को भाजपा विधायकों ने विधानसभा में जमकर हंगामा किया। इसके उपरांत सभी विधायक राजभवन पहुंचे जहां राज्यपाल लालजी टंडन के सामने विधायकों ने परेड की।    राज्य विधानसभा की कार्रवाई स्थगित होने के बाद पूर्व मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान एवं नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव के नेतृत्व में भाजपा के सभी विधायक राजभवन पहुंचे। उन्होंने राज्यपाल लालजी टंडन से भेंटकर उन्हें बताया कि प्रदेश की कमलनाथ सरकार अपना बहुमत खो चुकी है। पूर्व मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने मीडिया से बातचीत के दौरान बताया कि हमने राज्यपाल महोदय से भेंट करके उन्हें पार्टी के सभी 106 विधायकों की सूची सौंपी है साथ ही सभी विधायकों को राज्यपाल के सामने प्रस्तुत भी किया। उन्होंने कहा कि हमने राज्यपाल को बताया है कि कमलनाथ सरकार अपना बहुमत खो चुकी है। उन्होंने बताया कि राज्यपाल लालजी टंडन ने उन्हें आश्वासन दिया है कि विधायकों के संवैधानिक अधिकारों की रक्षा की जाएगी। इधर, सोमवार को ही पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजयसिंह ने भी राज्यपाल लालजी टंडन से भेंट की। हालांकि दिग्विजयसिंह ने इस मुलाकात को सौजन्य भेंट बताया है। इसके बावजूद राजनीतिक प्रेक्षकों की नजरें इस मुलाकात पर टिकी हुई हैं और इसके बारे में कयास लगाना शुरू हो गया है। 

Dakhal News

Dakhal News 16 March 2020


bhopal,  Corona testing,Congress legislators ,staying in Bengaluru, hotel before return

भोपाल। कांग्रेस के सिंधिया समर्थक बागी 22 विधायकों की भोपाल वापसी से पहले उनका कोरोना टेस्टिंग किया जा रहा है। सोमवार को डॉक्टरों की टीम बेंगलुरु के रामदा होटल पहुंची है। यहां से सभी विधायक कोरोना टेस्ट होने के बाद मेडिकली फिट होने का सर्टिफिकेट लेकर भोपाल आएंगे। कांग्रेस के 22 बागी विधायकों को बेंगलुरु से भोपाल लाने के लिए 3 चार्टर्ड प्लेन तैयार रखे गए हैं। आलाकमान के निर्देश मिलते ही सभी बागी विधायक कमलनाथ सरकार को गिराने के लिए भोपाल के लिए रवाना हो जाऐंगे। विधानसभा में फ्लोर टेस्ट नहीं होने की रणनीति के जवाब में इन विधायकों की राजभवन में परेड कराई जा सकती है।   सोमवार को मध्य प्रदेश विधानसभा का सत्र शुरू हुआ। कांग्रेस द्वारा व्हीप जारी करने के बाद भी बागी 22 विधायक सदन की कार्यवाही में नहीं पहुंचे। बेंगलुरु के रामदा होटल में ठहरे कांग्रेस विधायकों का कोरोना टेस्टिंग के लिए डॉक्टरों की टीम ने रिजॉर्ट पहुंचकर जांच की। होटल में कांग्रेस के सभी 22 विधायकों को एक ही कमरे में रखा गया है, जहां बैठकर वे मध्यप्रदेश की सियासी उठापटक को टीवी पर लाइव देख रहे हैं। रिजॉर्ट के बाहर पुलिस का कड़ा पहरा है। बागी विधायकों के साथ इस समय भाजपा नेता अरविंद भदौरिया, उमाशंकर गुप्ता और सुदर्शन गुप्ता मौजूद हैं। वे लगातार भोपाल और दिल्ली में पार्टी के वरिष्ठ नेताओं के संपर्क में हैं। वहीं, सिंधिया की तरफ से उनके करीबी पुरुषोत्तम पाराशर मोर्चा संभाले हैं। वे विधायकों की लगातार सिंधिया से बात करा रहे हैं।    बताया जा रहा है कि सिंधिया यहां पुरुषोत्तम को ही संदेश और निर्देश दे रहे हैं। सभी विधायकों के मोबाइल बंद हैं। मध्य प्रदेश से खाली हुई राज्यसभा सीटों के लिए 26 मार्च को चुनाव भी होना है। ऐसे में यह कहा जा रहा है कि बेंगलुरु में मौजूद कांग्रेस विधायकों पर व्हिप का पालन न करने पर कार्रवाई भी हो सकती है। 

Dakhal News

Dakhal News 16 March 2020


rewa,  CM Kamal Nath,prove majority, Bhupesh Baghel , five full years

रीवा। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा है कि सीएम कमलनाथ फ्लोर टेस्ट में बहुमत साबित करेंगे और मध्यप्रदेश में उनकी सरकार पूरे पांच साल चलेगी। यह बातें उन्होंने रविवार को अपने एक दिवसीय प्रवास के दौरान रीवा हवाई पट्टी पर मीडिया से बातचीत करते हुए कही। इस दौरान उन्होंने भाजपा पर विधायकों की खरीद-फरोख्त का आरोप लगाते हुए जमकर निशाना साधा। दरअसल, भूपेश बघेल रविवार को सतना जिले के ग्राम नकटी, खैरवा और सिंहपर में स्थानीय कार्यक्रम में शामिल होने के लिए यहां आए थे। शासकीय विमान से रविवार दोपहर करीब 12 बजे रीवा की चोरहटा हवाई पट्टी पहुंचे, जहां कांग्रेस कार्यकर्ताओं द्वारा उनका जोरदार स्वागत किया गया। इस दौरान उन्होंने मीडिया से बातचीत में कहा कि भाजपा की केन्द्र सरकार ने मध्यप्रदेश में उथल-पुथल मचा रखी है। विधायक और मंत्रियों को तोडऩे का प्रयास किया गया है और अभी तक उन्हें बंधक बनाकर रखा गया है। उन्होंने भाजपा पर लोकतंत्र का चीरहरण करने का आरोप लगाते हुए कहा कि उन्हें पूरा विश्वास है कि कमलनाथ की सरकार न केवल बहुमत सिद्ध करेगी, बल्कि वह पांच पूरे भी करेगी। उन्होंने पूर्व केन्द्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया के भाजपा में शामिल होने को कहा कि मैं उन्हें धैर्यवान नेता समझता था, लेकिन जिस तरह बिना पानी के मछली छटपटाती है, उसी तरह सत्ता से दूर होते ही उनकी छटपटाहट भी सामने आई और उन्होंने धैर्य खोकर भाजपा का दामन थाम लिया। मीडिया से बातचीत के बाद मुख्यमंत्री भूपेश बघेल हेलीकाप्टर से सतना के लिए रवाना हो गए।

Dakhal News

Dakhal News 15 March 2020


bhopal,  After Congress, BJP , issued whip, MLA

भोपाल। मध्य प्रदेश की राजनीतिक उठा पटक अपने अंतिम चरण में है। सोमवार से बजट सत्र शुरू होने जा रहा है। राज्यपाल ने राज्य सरकार को बजट सत्र के पहले दिन सोमवार को बहुमत साबित करने के निर्देश दिए हैं। राज्यपाल के आदेश के बाद अब कांग्रेस के सामने सरकार को बचाने की चुनौती है, जिसके लिए सीएम कमलनाथ अपनी पूरी तैयारी में जुट गए हैं। जयपुर से सभी 88 विधायकों को भोपाल वापस बुला लिया गया है। भाजपा ने भी रविवार को अपने विधायकों को व्हिप जारी कर दिया है।    भाजपा विधायक दल के मुख्य सचेतक नरोत्तम मिश्रा ने विधानसभा के बजट सत्र को लेकर भाजपा विधायकों के लिए व्हिप जारी कर दिया है। विधानसभा के पूरे सत्र को लेकर ये व्हिप जारी किया गया है। विधायकों को अनिवार्य रूप से सत्र में उपस्थित रहने और फ्लोर टेस्ट (बहुमत सिद्ध) के दौरान भाजपा दल के पक्ष में अनिवार्य रूप से मतदान करने के निर्देश दिए गए है।    भाजपा विधायक दल की बैठक भी आज हो सकती है भाजपा विधायक दल की बैठक भी रविवार को हो सकती है। पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान दिल्ली में हैं। इधर, गुडग़ांव के मानेसर में एक रिजॉर्ट में ठहरे भाजपा विधायकों को भी रविवार को भोपाल लाया जा सकता है। बेंगलुरु से ज्योतिरादित्य समर्थक कांग्रेस विधायकों को भी कल विधानसभा की कार्यवाही शुरू होने से पहले भोपाल लाए जाने की संभावना है।   कांग्रेस पहले ही जारी कर चुकी है व्हिप इससे पहले कांग्रेस भी सत्र को लेकर व्हिप जारी कर चुकी है। कांग्रेस विधायक दल के मुख्य सचेतक और संसदीय कार्य मंत्री डॉ गोविंद सिंह ने पूरे सत्र के लिए व्हिप जारी किया है। इससे अब कांग्रेस विधायकों को सत्र के दौरान पूरे समय उपस्थित रहना अनिवार्य होगा।  

Dakhal News

Dakhal News 15 March 2020


bhopal,former minister ,expressed condolences t, ministers  Congress

भोपाल। मध्य प्रदेश की कमलनाथ सरकार पर सियासी संकट छाया हुआ है। राज्यपाल लालजी टंडन ने भी सरकार को फ्लोर टेस्ट के आदेश जारी कर दिए हैं। इस राजनीतिक उठापटक के बीच मप्र के पूर्व मंत्री और भाजपा विधायक नरोत्तम मिश्रा का बड़ा बयान सामने आया है। उन्होंने कहा है कि कुहासे और धुंध के बादल छटते जा रहे हैं, शाम तक बहुत सारे बादल जा चुके होंगे और वह सभी बातें साफ नजर आने लगेंगी।   रविवार को मीडिया से बातचीत में नरोत्तम मिश्रा ने राज्यपाल द्वारा जारी पत्र और विधानसभा अध्यक्ष के बागी विधायकों को नोटिस जारी किए जाने पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि राज्यपाल और विधानसभा अध्यक्ष दोनों संवैधानिक पद पर बैठे हुए हैं और दोनों सही निर्णय लेंगे। अन्य विधायकों के इस्तीफे और विधानसभा अध्यक्ष की कार्रवाई नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि चरणबद्ध नोटिस थे, उनको समझने की कोशिश करे। यह अध्यक्ष का विशेषाधिकार है, उन्होंने जो नोटिस दिए थे चरणबद्ध दिए थे। पहले छह विधायकों को बुलाया फिर सात को और फिर नौ को नोटिस दिए थे। मुझे लगता है कि वो चरणबद्ध ही कार्रवाई करेंगे। 24 घंटे का अंतर था नोटिस जारी करने में तो 24 घंटे के अंदर कुछ कार्रवाई सामने आ सकती है इसके लिए प्रतीक्षा करनी होगी।   कांग्रेस विधायकों की जयपुर से वापसी पर पूर्व मंत्री ने कहा कि हमारे विधायक पास में ही हैं। एक घंटे के समय में आ जाएंगे। कांग्रेस द्वारा विधायकों को बंधक बनाए जाने के आरोपों पर उन्होंने कहा कांग्रेस चाहे तो सुप्रीम कोर्ट चले जाएं। सुप्रीम कोर्ट के कई निर्णय आ चुके हैं, कांग्रेस बहुमत खो चुकी है। कांग्रेस के मंत्रियों के प्रति मेरी संवेदना है, अब तो चला चली की बेला है।

Dakhal News

Dakhal News 15 March 2020


bhopal, Narottam, meeting cabinet , farce, Kamal Nath government

भोपाल। प्रदेश में चल रहे सियासी घमासान के बीच मुख्यमंत्री कमलनाथ ने रविवार को राज्य मंत्रिमंडल की आपात बैठक बुलाई है। लेकिन इस बैठक को लेकर भी राजनीति शुरू हो गई है। पूर्व मंत्री और भाजपा के कद्दावर नेता डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने इस बैठक को लेकर सवाल उठाए हैं और इसे कमलनाथ सरकार का स्वांग बताया है।    मुख्यमंत्री कमलनाथ ने रविवार को सुबह 11.00 बजे से राज्य मंत्रिमंडल की आपात बैठक बुलाई है। माना जा रहा है कि इस बैठक में कोरोना वायरस के कारण पैदा हुई स्थिति पर तो चर्चा होगी ही, इसके अलावा विधानसभा का बजट सत्र टालने पर भी चर्चा हो सकती है। कैबिनेट की इस बैठक पर पूर्व मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने आपत्ति जताई है। उन्होंने शनिवार को मीडिया से बातचीत के दौरान कहा कि जब सरकार के मंत्री ही नहीं है तो कैबिनेट बैठक कैसे हो सकती है। कमलनाथ सरकार यह कैसा स्वांग कर रही है।    उन्होंने कहा कि  कैबिनेट के 6 मंत्रियों ने तो इस्तीफा दे दिया है, फिर कैबिनेट की बैठक कैसे हो रही है? मिश्रा ने आगे कहा कि हफ्ते-दस दिन में प्रदेश की राजनीतिक स्थिति साफ हो जाएगी। उन्होंने कहा कि उन्हें पूरा भरोसा है कि राज्य विधानसभा का बजट सत्र 16 मार्च से शुरू हो जाएगा। हम फ्लोर टेस्ट का इंतजार कर रहे हैं। वहीं उन्होंने हर विधायक की सुरक्षा बढ़ाने की मांग की है। डॉ. मिश्रा ने कहा कि कमलनाथ सरकार पर कोरोना का नहीं बल्कि ‘डरो ना’ का असर है, क्योंकि उनके विधायकों ने साथ छोड़ दिया है। सिंधिया के पार्टी बदल देने से मध्यप्रदेश सरकार को डरो-ना वायरस हो गया है।

Dakhal News

Dakhal News 14 March 2020


bhopal,  BJP leader ,meets ,letter, governor ,demanding ,first floor test

भोपाल। राज्यपाल लालजी टंडन के छुट्टियों से वापस आते ही प्रदेश में राजनीतिक हलचल तेज हो गई है। शनिवार को प्रदेश के भाजपा नेता राज्यपाल से मिले और उनसे विधानसभा में फ्लोर टेस्ट कराने की मांग की।    पूर्व मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान और नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव के नेतृत्व में भारतीय जनता पार्टी का एक प्रतिनिधिमंडल शनिवार को राज्यपाल लालजी टंडन से मिला। प्रतिनिधिमंडल ने राज्यपाल को एक ज्ञापन सौंपा और विधानसभा में फ्लोर टेस्ट पहले कराने की मांग की। गौरतलब है कि प्रदेश इस आशय की चर्चाएं चल रही हैं कि परिस्थितियों को देखते हुए कमलनाथ विधानसभा का बजट सत्र जो 16 मार्च से शुरू होने जा रहा है, उसे आगे बढ़ा सकती है। भाजपा के प्रतिनिधिमंडल ने राज्यपाल से पहले फ्लोर टेस्ट कराने की मांग इसी संभावना को ध्यान में रखकर की है। पार्टी के इस प्रतिनिधिमंडल में पूर्व मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा, भूपेंद्र सिंह, रामपाल सिंह आदि शामिल थे।    राज्यपाल से भेंट के बाद पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मीडिया से कहा कि यह सरकार अल्‍पमत में है और इसे फैसले लेने का अधिकार नहीं है। सरकार मामले को लंबा खींचना चाहती है। इसलिए राज्यपाल महोदय से मिलकर मांग की है कि राज्यपाल के अभिभाषण और बजट सत्र से पहले ही विधानसभा में फ्लोर टेस्ट कराया जाए। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार विश्‍वास मत प्राप्‍त न करने के लिए साजिश कर रही है। राज्‍य में अराजकता का माहौल है। हॉर्स ट्रेडिंग की जा रही है, प्रजातंत्र का गला घोंटा जा रहा है। हमारे नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया पर भोपाल में हमला किया गया, हमारे विधायकों को प्रलोभन दिया जा रहा है। इसलिए राज्यपाल से हस्तक्षेप करने की मांग की है।    वहीं, नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव ने कहा कि नैतिकता का यही तकाजा है कि पहले फ्लोर टेस्‍ट होना चाहिये। राज्‍य में संवैधानिक संकट खड़ा करने का प्रयास किया जा रहा है। उन्‍होंने सभी विधायकों को सुरक्षा प्रदान करने की मांग भी की। नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव ने अपने ट्विटर हैंडल पर राज्यपाल से हुई भेंट के बारे में जानकारी दी है।

Dakhal News

Dakhal News 14 March 2020


bhopal,Congress leader statement,long time, politics with Scindia family

भोपाल। कांग्रेस नेता और ज्योतिरादित्य सिंधिया के करीबी माने जाने वाले रामनिवास रावत ने सिंधिया के भाजपा में शामिल होने पर दुख जताया है। राम निवास भी मानते हैं कि प्रदेश के नेताओं को सिंधिया को मनाना था लेकिन वो पहले ही तय कर चुके थे। उन्होंने बताया कि वे माधवराव सिंधिया के साथ काम किए हैं। उन्होंने किसी भी हाल में कांगेस नहीं छोडऩे की बात कही है।   कांग्रेस कमेटी के कार्यकारी अध्यक्ष रामनिवास रावत और मीडिया विभाग की अध्यक्ष शोभा ओझा ने शनिवार को प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में सयुंक्त पत्रकार वार्ता को संबोधित किया। रामविलास ने कहा कि लंबे समय तक मैंने माधव राव सिंधिया के साथ राजनीति की हैं और मैं लंबे समय तक विधायक भी रहा और बाद में ज्योतिरादित्य सिंधिया के साथ राजनीति की मगर आज सिंधिया कांग्रेस छोडक़र चले गए है जिसका मुझे दुख हैं। उन्होंने कहा कि इस देश में कमी सबकी खलती है मगर पूर्ति सभी की होती है। उन्होंने कहा कि सिंधिया भाजपा में गए मगर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सबसे पहले उन्हें विभीषण कहाँ है। जिससे आप अंदाजा लगा सकते है कि उन्होंने उनका सम्मान किया या अपमान किया।   सिंधिया समर्थक विधायकों की बगावत पर रामविलास रावत ने कहा कि विधायकों को धोखे से ले जाकर उनसे जबरजस्ती इस्तीफ़ा लिखवाया गया। भाजपा के नेता ही विधायकों का इस्तीफा लेकर आए है जिससे अंदाजा लगाया जा सकता हैं। रावत की माने तो विधायक आकर इस्तीफा देते हैं तो स्वीकार करने में कोई दिक्कत नहीं है। राम निवास ने के मुताबिक 10 विधायक इस्तीफा देने के लिए तैयार नहीं है। उनकी 8-10 विधायकों से बात हुई है वे इस्तीफा देने को तैयार नहीं है। कोरोना वायरस को लेकर विधानसभा आगे बढ़ाने के एक सवाल पर कांग्रेस कमेटी के कार्यकारी अध्यक्ष रामनिवास रावत ने कहां की यह बड़ी आपदा है जिसके लिए विचार किया जा रहा हैं।  

Dakhal News

Dakhal News 14 March 2020


bhopal, Shivraj and Scindia, meet ,Raj Bhavan,Governor

भोपाल। मध्‍यप्रदेश में पिछले दो सप्‍ताह से चल रही सियासी उठापठक के बीच शुक्रवार को मुख्‍यमंत्री कमलनाथ ने राज्‍यपाल लालजी टंडन से मुलाकात की और पूरे घटनाक्रम को लेकर एक शिकायती चिट्ठी भी सौंपी । इसमें उन्होंने भाजपा पर विधायकों की खरीद-फरोख्त के आरोप लगाए। इसके बाद दोपहर में पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और भाजपा में शामिल हुए ज्योतिरादित्य सिंधिया भी पहुंचे।  दोनों नेताओं ने करीब 20 मिनट  तक राज्यपाल से चर्चा की।    जानकारी के अनुसार शुक्रवार सुबह मुख्‍यमंत्री कमलनाथ ने राज्‍यपाल से मुलाकात की थी और एक पत्र भी सौंपा था। जिसके बाद राज्‍यपाल ने 6 मंत्रियों को बर्खास्‍त कर दिया। बाद में भाजपा भी अपना पक्ष रखने के लिए महामहिम राज्यपाल लालजी टंडन से मिलने राज भवन पहुंची। भाजपा चाहती है कि अभिभाषण के पहले फ्लोर टेस्ट हो जाए, क्योंकि उन्हें पता है कि कांग्रेस के पास विधायकों की संख्या कम है और सरकार इस समय अल्‍पमत है।    इसी बीच बैंगलूरू से आ रहे विधायकों की सुरक्षा को देखते हुए विमानतल पर भारी पुलिसबल तैनात किया गया। यहां पर कांग्रेस और भाजपा के कार्यकर्ता आमने-सामने आ गए जिसके बाद यहां धारा 144 लगानी पड़ी। आखिरकार विधायकों का बैंगलूरू से आना भी कैंसल हो गया। विधानसभा में विधायकों का इंतजार कर रहे अध्‍यक्ष भी बाद में चले गए।    एक दिन पहले विधानसभा अध्‍यक्ष एन.पी प्रजापति ने बागी विधायकों को नोटिस जारी कर उपस्थित होने को कहा था। उन्‍होंने पूछा है कि क्‍या यह इस्‍तीफा व्‍यक्तिगत रूप से दिए हैं या फिर किसी की दबाव में यह सब उन्‍हें स्‍वयं बताना होगा।    मध्यप्रदेश विधानसभा में 230 सीटें हैं, जिनमें से वर्तमान में दो खाली हैं। इस प्रकार अभी सूबे में कुल 228 विधायक हैं, जिनमें से 114 कांग्रेस, 107 भाजपा, चार निर्दलीय, दो बहुजन समाज पार्टी एवं एक समाजवादी पार्टी का विधायक शामिल हैं। कांग्रेस सरकार को इन चारों निर्दलीय विधायकों के साथ-साथ बसपा और सपा का समर्थन है, लेकिन वर्तमान हालातों को देखते हुए मध्‍यप्रदेश की कांग्रेस सरकार अल्‍पमत में आ गई है, किन्‍तु शुक्रवार को सीएम कमलनाथ ने राज्‍यपाल से मुलाकात के बाद विक्‍टरी का निशान दिखाते हुए कहा कि मैं फ्लोर टेस्ट के लिए तैयार हूं। हमारी सरकार पांच साल चलेगी।   

Dakhal News

Dakhal News 13 March 2020


guna, Efforts ,save Congress , intensified; Digvijay supporters ,take front

गुना।  जहां एक और पूर्व केन्द्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया के भाजपा में शामिल होने के बाद उनके समर्थकों द्वारा इस्तीफा दिए जाने का क्रम थमने का नाम नहीं ले रहा है। वहीं दूसरी ओर कांग्रेस को बचाने के लिए पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के समर्थक खुलकर सामने आ गए हैं, जिन्होंने 15 मार्च को दोपहर साढ़े तीन बजे गुना के राजीव भवन में कांग्रेसजनों की बैठक बुलाई है,उसमें दिग्विजय सिंह के छोटे भाई और चांचौड़ा के विधायक लक्ष्मण सिंह शामिल होने गुना आएंगे। पूर्व केन्द्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया के भाजपा में शामिल होने के बाद बमौरी विधानसभा क्षेत्र के विधायक एवं प्रदेश के श्रम मंत्री महेन्द्र सिंह सिसौदिया ने भी इस्तीफा दे दिया था। जिनको राज्यपाल ने मंत्रिमंडल से बर्खास्त कर दिया है।  उनका विभाग प्रदेश सरकार ने पीएचई मंत्री सुखदेव पांसे को सौंपा है। इस खबर के गुना में आने के बाद सिसौदिया के समर्थकों में मायूसी छा गई है। इसके अलावा उनके समर्थकों में इस बर्खास्तगी के बाद प्रदेश की वर्तमान राजनीति और सिसौदिया व अपने भविष्य को लेकर तरह-तरह की चर्चाएं जोरों पर छाई रहीं।    सिंधिया समर्थकों के इस्तीफे के बाद कांग्रेस संकट में  पूर्व केन्द्रीय मंत्री सिंधिया के कांग्रेस छोडऩे के बाद कांग्रेस के गुना जिलाध्यक्ष विठ्ठल दास मीना, शहर कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष रविन्द्र रघुवंशी, ब्लॉक अध्यक्ष संजय देशमुख समेत कई कांग्रेसजनों ने अपने पद छोडक़र कांग्रेस की प्राथमिक सदस्यता से त्यागपत्र दे दिया था। इसके बाद कांग्रेस में गिने-चुने वरिष्ठ पदाधिकारी रह गए थे। कांग्रेस संगठन के कमजोर होते ही वरिष्ठ कांग्रेसजन और पूर्व मु यमंत्री दिग्विजय सिंह के समर्थक आगे आए और उन्होंने मोर्चा संभाला और कांग्रेसजनों की बैठक बुलाने का निर्णय लिया। पूर्व विधायक कैलाश शर्मा, पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष सुमेर सिंह गढ़ा, व कांग्रेस नेता हरिशंकर विजयवर्गीय  ने जिले भर के कांग्रेसजनों से कहा है कि वे रविवार को दोपहर साढ़े तीन बजे कांग्रेस कार्यालय राजीव भवन पर होने वाली बैठक में शामिल हों। इस बैठक में सभी वरिष्ठ कांग्रेसजन, पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष, जनपद अध्यक्ष, नगर पालिका अध्यक्ष, नगर परिषद अध्यक्ष, सभी ब्लॉक कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष व पदाधिकारियों को आमंत्रित किया है।    भोपाल से लौटे सिंधिया समर्थक  पूर्व केन्द्रीय मंत्री व भाजपा नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया शुक्रवार को  भोपाल में राज्यसभा सदस्य का नामांकन फार्म भर रहे थे। उनके जुलूस में शामिल होने के लिए गुना से कई सिंधिया समर्थक एवं भाजपा नेता भोपाल गए थे, वे देर शाम भोपाल लौट आए। इनमें पूर्व ब्लॉक अध्यक्ष संजय देशमुख, रविन्द्र रघुवंशी, वंदना मांडरे, विठ्ठल दास मीना, नीरज निगम, श्रवण धाकड़, कैलाश धाकड़, दिनेश शर्मा, संजीव विजयवर्गीय, शिवपाल परमार, अनुज जैन आदि शामिल थे।    शिवराज ने लिया सलूजा का नाम  पूर्व मुयमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भोपाल में आयोजित एक कार्यक्रम में प्रदेश के मु यमंत्री कमलनाथ पर जमकर निशाना साधा और भाजपा कार्यकर्ताओंं को प्रताडि़त करने का आरोप लगाया। इसी दौरान उन्होंने गुना नगर पालिका के पूर्व अध्यक्ष राजेन्द्र सलूजा का भी मामला उठाया, उनका कहना था कि सलूजा को कई झूठे मामलों में फंसाया और उनके परिवार को प्रताडि़त कराया।

Dakhal News

Dakhal News 13 March 2020


bhopal,  Six candidates, filed nominations, three Rajya Sabha seats , MP

भोपाल। मध्यप्रदेश से राज्यसभा की तीन खाली होने वाली सीटों के लिए कुल छह उम्मीदवारों ने अपने नामांकन दाखिल किये हैं। इनमें भाजपा के तीन, कांग्रेस को दो और एक निर्दलीय उम्मीदवार शामिल हैं। खास बात यह है कि इनमें से पांच नामांकन राज्यसभा के द्विवार्षिक निर्वाचन के लिए नामजदगी के अंतिम दिन यानी शुक्रवार को जमा हुए हैं। यह जानकारी विधानसभा के अवर सचिव मुकेश मिश्रा ने मीडिया को दी। उन्होंने बताया कि राज्यसभा के लिए मध्यप्रदेश से तीन खाली होने वाली सीटों के लिए छह मार्च को नामांकन की प्रक्रिया शुरू हुई थी, जो शुक्रवार को दोपहर तीन बजे तक चली। अंतिम दिन भाजपा के तीन कांग्रेस के एक तथा एक निर्दलीय उम्मीदवार द्वारा अपने-अपने नामांकन पत्र दाखिल किये गए। उन्होंने बताया कि भाजपा के प्रत्याशी के रूप में ज्योतिरादित्य सिंधिया, सुमेर सिंह सोलंकी और रंजना बघेल ने रिटर्निंग अधिकारी एपी सिंह के समक्ष अपने नामांकन पत्र दाखिल किये हैं, वहीं, फूलसिंह बरैया ने इंडियन नेशनल कांग्रेस के उम्मीदवार के रूप में तथा रामदास दहीवाले ने निर्दलीय उम्मीदवार के तौपर पर रिटर्निंग ऑफिसर एपी सिंह को अपने नामांकन-पत्र सौंपे। इसके अलावा, इंडियन नेशनल कांग्रेस के उम्मीदवार दिग्विजय सिंह ने गुरुवार को अपना नामांकन दाखिल किया था। दिग्विजय सिंह ने अपने दाखिल अपने नामांकन-पत्र के तीन अतिरिक्त सेट भी शुक्रवार को जमा किये। उन्होंने बताया कि ज्योतिरादित्य सिंधिया, सुमेर सिंह सोलंकी एवं रंजना बघेल ने अपने नामांकन-पत्र के क्रमश: तीन-तीन तथा चार सेट जमा किये। वहीं, फूलसिंह बरैया ने अपने नामांकन-पत्र के तीन तथा रामदास दहीवाले ने अपने नामांकन-पत्र का एक सेट दाखिल किया है ।उल्लेखनीय है कि मध्यप्रदेश से राज्यसभा सदस्य दिग्विजय सिंह, प्रभात झा तथा सत्यनारायण जटिया का कार्यकाल आगामी नौ अप्रैल समाप्त हो रहा है। इन रिक्त होने वाली राज्यसभा की तीन सीटों के लिए निर्वाचन होना है। दाखिल नामांकन-पत्रों की जांच आगामी 16 मार्च को अपराह्न 2:00 बजे से की जाएगी, जबकि नाम वापसी की प्रक्रिया 18 मार्च को अपराह्न 3:00 बजे तक चलेगी। यदि आवश्यक हुआ तो मतदान आगामी 26 मार्च को पूर्वाह्न 9:00 बजे से अपराह्न 4:00 बजे तक होगा और उसी दिन शाम 5.00 बजे से मतगणना सम्पन्न होगी।

Dakhal News

Dakhal News 13 March 2020


shivpuri,  Supporters of Diggy, command of Congress

शिवपुरी। ज्योतिरादित्य सिंधिया द्वारा कांग्रेस छोड़ भाजपा का दामन थामे जाने के बाद अब कांग्रेस नई रणनीति में जुट गई है। शिवपुरी में सिंधिया समर्थक कांग्रेस जिलाध्यक्ष बैजनाथ यादव, कार्यकारी जिलाध्यक्ष राकेश गुप्ता सहित कई पदाधिकारियों द्वारा पार्टी छोड़ने पर अब जिला कांग्रेस की कमान दिग्गी समर्थक नेताओं को देने की तैयारी है। यहां पर दिग्गी गुट से जुड़े नेता जैसे पूर्व विधायक हरिबल्लभ शुक्ला, पूर्व जिलाध्यक्ष श्रीप्रकाश शर्मा, विजय सिंह चौहान सहित कई ऐसे नेता हैं जो अब एकाएक सक्रिय हो गए हैं। इस इलाके में अब तक ज्योतिरादित्य सिंधिया का प्रभाव होने के कारण उनकी पसंद व गुट के नेता को ही पार्टी की कमान या टिकट मिलता था लेकिन अब एकाएक राजनीतिक परिस्थितियां बदलने के बाद दिग्गी गुट से जुड़े नेताओं के लिए आगे के रास्ते खुल गए हैं। ऐसे में आने वाले समय में बड़ा परिवर्तन देखने को मिल सकता है।    किसे मिलेगी जिलाध्यक्ष की कुर्सी-  सिंधिया समर्थक अधिकांश कांग्रेस नेताओं ने अपने पदों से इस्तीफा देने की घोषणा कर दी है।  ऐसे में कयास शुरू हो गए हैं कि शिवपुरी कांग्रेस जिलाध्यक्ष की कुर्सी किसे मिलेगी। वैसे इस कुर्सी की दौड़ में कई नाम हैं लेकिन अब ऐसे महल विरोधी नेता को तलाशा जा रहा है जो दमखम से इस कुर्सी पर काम कर सकें और सिंधिया विरोधी हो। ऐसे में कई नाम चर्चा में है। पूर्व विधायक हरिबल्लभ शुक्ला, श्रीप्रकाश शर्मा, लक्ष्मीनारायण धाकड़, बासित अली सहित कई नाम इस दौड़ में बताए जा रहे हैं।    केपी का अहम रोल रहेगा मप्र में एकाएक बदले राजनीतिक माहौल के बीच अब इस इलाके में सिंधिया समर्थकों की बजाए अब दिग्गी समर्थक नेता एकाएक चमक सकते हैं। आने वाले समय में दिग्गी समर्थक नेताओं में गिने जाने वाले पिछोर विधायक और पूर्व मंत्री केपी सिंह की भूमिका इस इलाके में एकाएक बढ़ेगी। बताया जा रहा है कि शिवपुरी, गुना, ग्वालियर में केपी सिंह का आने वाले समय में अहम रोल होगा। केपी सिंह को दिग्गी गुट का माना जाता है और एक साल पहले मप्र में कांग्रेस की सरकार बनने के बाद उनका मंत्री बनना तय माना जा रहा था लेकिन सिंधिया के बीटो के चलते वह मंत्री नहीं बन पाए थे। 

Dakhal News

Dakhal News 12 March 2020


bhopal, BJP state office, decorated like a bride , welcome Scindia

भोपाल। पूर्व केन्द्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया गुरुवार दोपहर भोपाल पहुंचेंगे। भाजपा में शामिल होने के बाद सिंधिया पहली बार राजधानी आ रहे है। सिंधिया के भाजपा में शामिल होने को यादगार बनाने के लिए बड़े स्तर पर तैयारी की गई है। उनके स्वागत के लिए राजधानी स्थित भाजपा प्रदेश कार्यालय को दुल्हन की तरह सजाया गया है।    सिंधिया के भोपाल आगमन पर भाजपा ने जबरदस्त तैयारी की है। भाजपा और आरएसस के बड़े नेता पूरी तैयारियों पर नजर रखे हुए हैं। बताया जा रहा है कि सिंधिया दो बजे के करीब विशेष विमान से स्टेट हैंगर पहुंचेंगे। ज्योतिरादित्य सिंधिया के स्वागत के लिए खुद भाजपा के बड़े नेता एयरपोर्ट जाएंगे। यहां से एक बड़े जुलूस की शक्ल में उनका काफिला शहर के प्रमुख मार्गों से होता हुआ भाजपा प्रदेश कार्यालय पहुंचेगा। यहां उनका जोरदार स्वागत किया जाएगा। सिंधिया कार्यालय प्रांगण में राजमाता विजयाराजे सिंधिया, कुशाभाऊ ठाकरे और पंडित दीनदयाल उपाध्याय की प्रतिमा पर माल्यार्पण करेंगे। इसके बाद मंच से हजारों भाजपा कार्यकर्ताओं को संबोधित करेंगे। शुक्रवार को सिंधिया राज्यसभा के लिए अपना नामांकन जमा करेंगे।    कांग्रेस विधायक संजय शुक्ला जयपुर से इंदौर पहुंचे कांग्रेस विधायक संजय शुक्ला जयपुर से इंदौर पहुंचे हैं। संजय का कहना है कि वे निजी कारणों से वापस आए हैं। उनके पिता और बड़े भाई भाजपा में ही हैं और इंदौर के बड़े नेता माने जाते हैं। उनके भाजपा में शामिल होने की सूचना आई थी, जिसका विधायक ने खंडन किया था।  

Dakhal News

Dakhal News 12 March 2020


bhopal, Corporation removes posters, welcome Scindia, Congress workers, one soot

भोपाल। पूर्व केन्द्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया भाजपा में शामिल होने के बाद पहली बार गुरुवार को दोपहर बाद भोपाल पहुंचेंगे। उनके स्वागत में भोपाल में जगह-जगह पोस्टर लगाए थे, जिन्हें नगर निगम द्वारा हटा दिया गया है। वहीं, कांग्रेस कार्यकर्ताओं द्वारा सिंधिया का विरोध किया जा रहा है। भोपाल के पॉलीटेक्निक चौराहे पर कार्यकर्ताओं द्वारा गुरुवार को जोरदार विरोध प्रदर्शन किया गया और यहां सिंधिया के पोस्टर पर कालिख पोत दी। बताया जा रहा है कि यह पोस्टर सीएम कमलनाथ के पोस्टर के ऊपर लगाया गया था, जिसे कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने फाड़ने की कोशिश की और फिर उस पर काला रंग पोत दिया। पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार सिंधिया गुरुवार को दोपहर तीन बजे भोपाल पहुंचेंगे। भाजपा ने भोपाल में उनके स्वागत में कई जगह बैनर-पोस्टर लगाए गए हैं। बुधवार को देर रात ही शहर को सिंधिया के स्वागत में पोस्टर-बैनरों से पाट दिया था, जिन्हें गुरुवार सुबह ही नगर निगम ने कार्रवाई करते हुए उन्हें हटा दिया। कांग्रेसियों ने भी सुबह सिंधिया के खिलाफ प्रदर्शन किया और भोपाल के पॉलीटेक्निक चौराहे पर लगे सिंधिया के पोस्टर पर कालिख पोत दी है। इन पोस्टरों में भाजपा के अन्य नेताओं की तस्वीरें भी थीं, लेकिन उनमें से सिर्फ सिंधिया की तस्वीर पर (चेहरे पर) ही काला रंग फेंका गया।

Dakhal News

Dakhal News 12 March 2020


bhopal,  Kamal Nath government, will easily prove majority , floor test

भोपाल। पूर्व केन्द्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया के भाजपा में शामिल होने और उनके समर्थक मंत्रियों-विधायकों द्वारा वीडियो जारी कर सिंधिया के साथ होने की बात कहने के बाद भी कांग्रेस की कमलनाथ सरकार आश्वस्त नजर आ रही है। सीएम कमलनाथ के बाद पार्टी के वरिष्ठ नेता और पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह ने भी कहा है कि सरकार को कोई खतरा नहीं है। फ्लोर टेस्ट में सरकार आसानी से बहुमत साबित करेगी।  दरअसल, ज्योतिरादित्य सिंधिया के भाजपा में शामिल होने के बाद दिग्विजय सिंह और सीएम कमलनाथ के बीच मुलाकात हुई। मुलाकात के बाद मुख्यमंत्री निवास के बाहर निकलने बाद दिग्विजय सिंह ने मीडिया से बातचीत में कहा कि सरकार फ्लोर टेस्ट कराएगी और उसमें आसानी के साथ बहुमत भी साबित करेगी। उल्लेखनीय है कि मध्यप्रदेश की 230 सीटों वाली विधानसभा में फिलहाल कुल 228 विधायक हैं, जबकि दो सीटें रिक्त हैं। इनमें जौरा और आगर मालवा शामिल हैं। इन 228 विधायकों में से कांग्रेस के 22 विधायक इस्तीफा दे चुके हैं और इस तरह उसके पास 114 का संख्या बल घटकर 92 रह गया है। कांग्रेस को अभी तक बसपा के दो, सपा का एक और चार निर्दलीय विधायकों का भी समर्थन प्राप्त है। भाजपा के पास अभी 107 सीटें हैं। इस लिहाज से कांग्रेस बहुमत के आंकड़े से काफी दूर है। ऐसी स्थिति में यह देखना दिलचस्प होगा कि कांग्रेस की सरकार फ्लोर टेस्ट में बहुमत कैसे साबित करेगी?

Dakhal News

Dakhal News 11 March 2020


bhopal,  Scindia will come ,Thursday ,fill the nomination , Rajya Sabha

भोपाल। भारतीय जनता पार्टी के नेता और पूर्व केन्द्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया गुरुवार को अपरान्ह 3 बजे विमान द्वारा भोपाल पहुंचेंगे। वे राजाभोज विमानतल से चलकर भाजपा कार्यालय पं. दीनदयाल परिसर पहुंचेंगे। यहां पं. दीनदयाल उपाध्याय, श्रीमंत राजामाता विजयाराजे सिंधिया, मध्यप्रदेश भाजपा के पितृपुरुष कुशाभाऊ ठाकरे जी की प्रतिमा और स्व. माधवराव सिंधिया जी के चित्र पर माल्यार्पण करेंगे। भाजपा कार्यालय में ज्योतिरादित्य सिंधिया का स्वागत कार्यक्रम आयोजित किया जायेगा।भाजपा के प्रदेश मीडिया प्रभारी लोकेन्द्र पाराशर ने इस संबंध में जानकारी देते हुए बताया कि ज्योतिरादित्य सिंधिया 13 मार्च को दोपहर 12 बजे पुन: भाजपा कार्यालय पहुंचेंगे और महापुरुषों के चित्र पर माल्यार्पण करने के पश्चात राज्यसभा चुनाव के लिए नामांकन दाखिल करने विधानसभा परिसर जायेंगे।

Dakhal News

Dakhal News 11 March 2020


bhopal,  Former CM, now says, Maharaj and Shivraj together ,Scindia joined BJP

भोपाल। वरिष्ठ नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया ने बुधवार को दिल्ली में राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा की मौजूदगी में भाजपा की सदस्यता लेने पर मप्र में भाजपा नेताओं ने खुशी जताई है। मप्र के पूर्व मुख्यमंत्री और भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष शिवराज सिंह चौहान ने बुधवार को अपने निवास में मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि मप्र में अब महाराज और शिवराज एक साथ हो गए है। आज का दिन भाजपा के लिए और मेरे लिए आनंद के साथ प्रसन्नता का दिन है।    उन्होंने कहा कि आज मुझे राजमाता विजयाराजे सिंधिया की याद आ रही है। वे भाजपा की लाखों कार्यकर्ताओं की माँ थी। शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि राजमाता सिंधिया स्नेह, आत्मीयता और प्रेम की मूर्ति थी। उन्होंने मप्र में भारतीय जन संघ स्थपित करने में अतुल योगदान दिया था और आज उनके पोते ज्योतिरादित्य सिंधिया भाजपा परिवार में शामिल हुए है। सिंधिया की तारीफ करते हुए शिवराज ने कहा कि सिंधिया युवा, ऊर्जावान और कल्पनाशील मस्तक के नेता है। उन्होंने 2018 के विधानसभा चुनाव में बड़े उत्साह से मप्र कांग्रेस पार्टी के लिए काम किया था लेकिन कमलनाथ सरकार ने प्रदेश को तबाह और बर्बाद कर दिया है। एक भी वचन पूरा नहीं किया। भाजपा की जनकल्याण योजनाओं को बर्बाद कर दिया। शिवराज ने कहा कि सिंधिया ने राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा और गृहमंत्री अमित शाह के साथ राष्ट्र की सेवा के लिए भाजपा को चुना है। उन्होंने कहा कि सिंधिया के शामिल होने से देशभर में भाजपा और मजूबत होगी और उनकी सक्रिय राजनीति का लाभ मिलेगा।  

Dakhal News

Dakhal News 11 March 2020


bhopal, State government ministers, greet Holi, citizens

भोपाल। मध्य प्रदेश सरकार के कैबिनेट मंत्रियों ने रंगों के पर्व होली पर प्रदेश के नागरिकों को शुभकामनाएं दी है। गृह एवं जेल मंत्री बाला बच्चन ने प्रदेश के नागरिकों को होली की शुभकामनाएँ दी हैं। मंत्री बच्चन ने अपने शुभकामना संदेश में कहा कि ईश्वर प्रदेशवासियों के जीवन में खुशी, समृद्धि और सफलता के रंग भर दे। मंत्री बच्चन ने नागरिकों से प्राकृतिक रंगों से होली पर्व मनाने की अपील की है।   ऊर्जा मंत्री प्रियव्रत सिंह ने दी होली की बधाई ऊर्जा मंत्री प्रियव्रत सिंह ने प्रदेशवासियों को रंग के पर्व होली की बधाई दी है। उन्होंने कहा है कि मिलजुलकर होली का पर्व मनाये। उन्होंने आग्रह किया है कि होली में प्राकृतिक रंगों का ही उपयोग करें।   नगरीय विकास मंत्री जयवद्र्धन सिंह ने दी नागरिकों को होली की बधाई नगरीय विकास एवं आवास मंत्री जयवद्र्धन सिंह ने होली के पर्व पर नागरिकों को बधाई दी है। उन्होंने कहा है कि सामाजिक समरसता का पर्व है। इसे सौहार्दपूर्ण ढंग से मनायें।   अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री आरिफ अकील ने दी होली की मुबारकबाद  अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री आरिफ अकील ने प्रदेशवासियों को होली की मुबारकबाद दी हैं। मंत्री आरिफ अकील ने शुभकामना संदेश में कहा है कि रंगों का त्यौहार होली सभी के जीवन में खुशियों के रंग भर दे। मंत्री अकील ने अपील की है कि प्रेम और भाईचारा बढ़ाने वाला यह पर्व सभी मिल-जुलकर मनाए।

Dakhal News

Dakhal News 9 March 2020


bhopal, Shivraj ,attacked government ,farmer loan waiver ,MISABANDI pension

भोपाल। मप्र के पूर्व मुख्यमंत्री और भाजपा राष्ट्रीय उपाध्यक्ष शिवराज सिंह चौहान ने एक बार फिर किसान कर्जमाफी और मीसाबंदी पेंशन बंद किए जाने की तैयारी को लेकर प्रदेश की कमलनाथ सरकार पर हमला बोला है। शिवराज ने कांग्रेस सरकार पर किसानों से झूठ बोलकर ठगने और मीसाबंदियों के साथ सम्मान की बजाय घृणा करने का गंभीर आरोप लगाया है।    शिवराज सिंह चौहान ने सोमवार सुबह चुटकी भरे अंदाज में ट्वीट कर सरकार पर तंज कसा। उन्होंने अपने ट्वीट में कुछ पंक्तियां लिखी, जिसमें उन्होंने किसानों, युवाओं और महिलाओं के साथ धोखा करने तंज कसते हुए लिखा #बुरा_ना_मानो_होली_है। किसान रोये, बहना रोये, रोये युवा बेरोजगार, बेपरवाही की चद्दर ताने सोये कांग्रेस सरकार। इनकी अक्ल ठिकाने तब आयेगी, जब पड़ेगी जनता की कस के फटकार।। जोगिरा सारा रा रा रा’।    आगे अपने ट्वीट में शिवराज ने एक अखबार में छपी किसानों का बोनस अटकने की खबर के हवाले से लिखा ‘कांग्रेस सरकार ने कुछ दिनों पहले आगर में किसानों के ऋण माफ करने का ढोंग कर जनता को ठगने की कोशिश की! कर्जमाफ़ी की असलियत तो पूरा प्रदेश जानता है। अब पिछले साल के बोनस की राशि आज तक नहीं मिली और नया साल आ गया। क्या इस साल भी मेरे किसान भाइयों को रुलाया जाएगा?    वहीं प्रदेश सरकार द्वारा मीसाबंदियों को दी जाने वाली पेंशन राशि को रोकने की तैयारी पर शिवराज ने कमलनाथ सरकार पर निशाना साधते हुए कहा ‘कांग्रेस पार्टी अपने काले कारनामे न भूले! देश में इमरजेंसी लगाकर जब कांग्रेस ने लोकतंत्र का गला घोंटने की कोशिश की थी, तब यही लोग थे जो देश की आत्मा को बचाने के लिए सडक़ों पर निकले थे और जेल गए थे! इन्हें सम्मान देने की जगह इनसे घृणा की जा रही है! एक अन्य ट्वीट कर उन्होंने लिखा ‘हम समझ सकते हैं कि मीसाबंदी कांग्रेस सरकार की आँखों में खटकते होंगे लेकिन उनके साथ हम अन्याय नहीं होने देंगे! कांग्रेस सरकार हर मोर्चे पर विफल हो रही है और इसलिए जनहित के सभी कार्यों पर रोक लगा रही है!   

Dakhal News

Dakhal News 9 March 2020


bhopal, BJP leaders, rebuked , state government ,visiting scholars

भोपाल। रविवार को देशभर में महिला दिवस की धूम देखने को मिली। सभी जगह विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन कर महिलाओं का सम्मान किया गया। लेकिन इन सब से उलट मप्र में महिला दिवस पर अलग ही तस्वीर देखने को मिली। यहां पिछले कई दिनों से नियमितकरण की मांग को लेकर धरने पर बैठी महिला अतिथि विद्वानों ने मुंडन करवाकर सरकार के प्रति अपना आक्रोश जताया। महिला अतिथि विद्वानों द्वारा मुंडन कराए जाने पर मप्र भाजपा नेताओं ने रविवार देर रात ट्वीट के माध्यम से कमलनाथ सरकार पर निशाना साधा है।    मप्र के पूर्व मुख्यमंत्री और भाजपा राष्ट्रीय उपाध्यक्ष शिवराज सिंह चौहान ने महिला अतिथि विद्वानों द्वारा मुंडन कराए जाने पर सरकार का घेराव करते हुए जमकर हमला बोला है। उन्होंने ट्वीट कर लिखा ‘कांग्रेस सरकार ने शर्म और संवेदना बेच खाई है। #WomensDay पर अतिथि विद्वान बहनों को अपने अधिकार के लिए केश त्यागना पड़ रहा है,फिर भी सरकार के कान पर जूं तक नहीं रेंगी। इन्हें बहनों की पीड़ा दिखाई नहीं दे रही है, यह अहंकार है और यही एक दिन इन्हें ले डूबेगा!    भाजपा प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा ने भी सरकार पर झूठे वादे कर सत्ता हासिल करने और अतिथि विद्वानों के साथ भेदभाव करने का आरोप लगाते हुए ट्वीट कर लिखा ‘झूठे वादे करके सत्ता में आना तो आसान है कमलनाथ जी। अगर भाजपा कार्यकर्ताओं पर कार्यवाही करने से फुर्सत मिल जाये तो प्रदेश के इन अतिथि विद्वानों कि भी चिंता कर लें। आपसे काफी उम्मीद थी प्रदेश की जनता को !!   नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव ने भी अतिथि विद्वानों के मामले पर उनका पक्ष लेते हुए सरकार पर निशाना साधा। उन्होंने अपने ट्वीट में कहा ‘प्रदेश के मुख्यमंत्री @OfficeOfKNath जी और उनकी पूरी सरकार के लिए इससे ज्यादा शर्म की बात और क्या हो सकती है कि महिला दिवस पर महिलाओं को अपने अधिकारों के लिए मुंडन कराना पड़ रहा है।  

Dakhal News

Dakhal News 9 March 2020


sanjay pathak mla

  राजनीति में कल क्या हो ये कोई नहीं जनता | मगर संजय पाठक पर हो रही कार्यवाही को लोग बदले की कार्यवाही कह रहे हैं | खुद संजय पाठक मिडिया से रुबरू  हुए | संजय पाठक ने बिना दिग्विजय का नाम लिए इशारो ही इशारों में साफ़ कहा की मैं अपने स्वर्गीय पिता जी के दोस्त से कहना चाहूंगा | की आपने मुझे मेरे व्यापर को मेरे परिचतों को नुक्सान पहुंचने का पूरा प्रयास किया हैं |  बदले की भावना से मेरे ऊपर कार्यवाही हो रही हैं | मेरी जान को खतरा हैं | मेरे परिवार के व्यवसाय को ख़त्म किया गया हैं | अब मेरे पुरे परिवार और मेरे मित्रों को भी परेशान किया जा रहा हैं | मेरे परिवार के रिजॉर्ट को तोडा गया कड़ी फसल पर जेसीबी चला कर नष्ट कर दिया | मेरे मित्र को उसके 90 साल पुराने माकन को गिराने का नोटिस दे दिया | अब मेरे घर में मेरी माँ बची हैं मेरी पत्नी हैं मेरे दो बच्चे हैं उन्हें भी मार दो मैं डरूंगा नहीं | मैं भाजपा में हूँ और मरते दम तक रहूँगा | 

Editor shruti upadhyay

shruti upadhyay 7 March 2020


surendr singh shera

  कोंग्रस की सरकार का बनने में सहयोग करने वाले निर्दलीय विधायक सुरेंद्र सिंह शेरा का एक वीडियो सोशल मिडिया पर जम कर वाइरल हो रहा हैं | शेरा किसी को बता रहे हैं की उन्हें फ्लाइट पकड़नी थी | वे अपनी भांजी के घर से निकले उन्हें दो बार रोका गया | उनकी फ्लाइट मिस हो गई अब वे रात की लाइट से निकलेंगे | भोपाल पहुँच कर कमलनाथ से मिलेंगे | और आखरी में उन्होंने कहा की we are with congres we are with kamalnath ji at any cost . 

Patrakar amitabh upadhyay

amitabh upadhyay 7 March 2020


sanjay pathak mla

  मध्यप्रदेश की राजनीति उबाल पर और मिडिया ब्रेकिंग की होड़ में कई खबरे ब्रेक कर रहा हैं | ऐसे में संजय पाठक अपने पुराने कांग्रेसी होने की पहचान मिटा नहीं पा रहे हैं | और दूसरी तरफ बीजेपी में अपनी वफ़ादारी जाता नहीं पा रहे हैं | पहले कहा गया की संजय पाठक अपने निजी विमान से कांग्रेस व् अन्य दलों के विधायक को लगाए थे |  उसके बाद अचानक खबर आई की संजय पाठक मुख्यमंत्री के मिलने उनके निवास पर रात में मुँह छुपकर गए | लेकिन इन सभी बातों को ख़ारिज करते हुए  आज संजय पाठक ने अपना एक वीडियो जारी किया हैं जिसने वो अपनी जान को खतरा बताते हुए नजर आ रहे हैं |   

Patrakar amitabh upadhyay

amitabh upadhyay 6 March 2020


kamalnath rambai

कमलनाथ की सरकार के पैर कांप रहे हैं ऐसे में कमलनाथ ने अपने चार बेहद करीबी मंत्री सज्जन सिंह वर्मा,जीतू पटवारी, उमंग सिंघार और जयवर्धन सिंह को तुरंत दिल्ली भेजा  | ये मंत्री कमलनाथ सरकार पर मंडराए खतरे के बादलों को छंटने के लिए हाईकमान के पास गए हैं। अब ये कहा जा रहा हैं की कमलनाथ यहाँ पर पार्टी से कहा कर दिग्विजय और ज्योतिरादित्य सिंधिया को राज्यसभा का उम्मीदवार बनव सकते है। फिर इन दोनों नेताओं की जिम्मेदारी होगी कि वे सरकार पर आने वाले संकट को दूर करे । शिवराज भी देर रात दिल्ली पहुंचे रात में ही पार्टी के शीर्ष नेतृत्व को प्रदेश के ताजा राजनीतिक हालात से अवगत कराया। कांग्रेस बिगड़े हालातों के सुधरने के लिए अब अपने रूठे विधायकों को मनाने में लगी हैं | खुद मुख्यमंत्री कमलनाथ कई विधायकों से फोन पर भी बात की और कई अहम् भूमिका के मंत्री नाराज विधायकों से बातचीत कर रहे हैं | कमलनाथ ने बसपा विधायक संजीव कुशवाह से मुलाकात की। कांग्रेस विधायक एदल सिंह कंषाना को मुलाकात के लिए बुलवाया मगर वो नहीं आए। 

Patrakar amitabh upadhyay

amitabh upadhyay 4 March 2020


horse treding madhypradesh

  सीएम कमलनाथ ने कहा-अलर्ट रहो , वीडी शर्मा बोले- यह कांग्रेस सरकार का अंदरुनी मामला   मध्यप्रदेश की कैबिनेट मीटिंग में विधायकों की खरीद-फरोख्त का मुद्दा चरम पर था | ऐसे में सीएम कमलनाथ ने कहा-अलर्ट रहो | एक तो राज्य सभा में जाने के लिए कांग्रेस में अंदरूनी कलह हैं | तो वहीं दूसरी तरफ अचानक विधायकों की खरीद - फरोख्त ने कमलनाथ सरकार की नींद उड़ा दी हैं | दो दिन से हाईबोल्टेज ड्रामा थम नहीं रहा हैं |  आरोप-प्रत्यारोप का दौर लगातार जारी हैं | हॉर्स ट्रेडिंग का आरोप लगाया जा रहा हैं | देर रात तक मध्यप्रदेश से शुरू हुई राजनीति दिल्ली जा पहुंची | मंगलवार सुबह दिग्विजय सिंह ने आरोप लगाया कि बसपा विधायक राम बाई को भाजपा नेता भूपेंद्र सिंह चार्टर्ड विमान से दिल्ली ले गए हैं। दोपहर को मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा कि भाजपा हमारे विधायकों को खरीदने की कोशिश कर रही है | जबकि भाजपा के कई विधायक हमारे संपर्क में हैं। कैबिनेट की बैठक में भी कमलनाथ ने मंत्रियों को सचेत रहने को कहा। कमलनाथ ने कहा-अलर्ट रहो | कांग्रेस के सबलगढ़ विधायक बैजनाथ कुशवाह ने हॉर्स ट्रेडिंग का आरोप लगाते हुए कहा कि केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर और पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का हवाला देकर कई लोग उनसे संपर्क कर रहे हैं। इस बीच भाजपा विधायक दल की बैठक से विधायक शरद कोल और नारायण त्रिपाठी की गैरमौजूदगी ने पार्टी का तनाव बढ़ा दिया। देर रात शिवराज को भाजपा हाईकमान ने दिल्ली बुला लिया। वहीं मध्यप्रदेश भाजपा के नए अध्यक्ष बीड़ी शर्मा ने बताया कि कांग्रेस उन पर जो विधायकों को खरीदने के आरोप लगा रही है वह गलत है। उनका साथ देने वाले विधायकों से उनका विवाद है |  यह उनकी अंदरुनी कलह है। सरकार को अस्थिर करने का उनका कोई प्रयास नहीं है साथ में  यह भी कहा कि कांग्रेस की सरकार बनी ही ब्लैकमेलिंग से थी।  

Dakhal News

Dakhal News 4 March 2020


kamalnath sarkar

  मुश्किल में कमलनाथ सरकार    समझने वाली बात ये हैं की क्यों हैं मुश्किल में कमलनाथ सरकार  , क्यों गड़बड़ा रहा हैं विधायकों का गणित , विधानसभा का गणित ख़राब हो रहा हैं   | क्या वाकई में कमलनाथ की सरकार मुश्किल में है | इन सभी सवालों के जवाब खोजने के लिए पहले गणित समझते हैं |  मौजूदा हालात में विधानसभा का गणित क्या  है | कितने विधायक टूटने से कमलनाथ की सरकार को खतरा हैं |  मध्यप्रदेश की सियासत में भूचाल मचा हुआ है। अब समझिये कि कांग्रेस के 4 विधायक और 4 अन्य दलों के विधायक भाजपा से सम्पर्क में हैं |  यही कारण है की कमलनाथ सरकार पर खतरा है। वहीं दिग्विजय सिंह पहले ही भाजपा पर विधायकों की खरीद फरोख्त का आरोप लगा चुके है। हालांकि कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह का साफ कहना है कि सरकार को कोई खतरा नहीं है | दूसरी तरफ भाजपा नेता विधायकों की खरीद फरोख्त से आरोपों को झूठा बता रहे हैं | वे उलट ही बात कह रहे हैं | बीजेपी साफ शब्दों में कह रही हैं की कांग्रेस के विधायक ही इस सरकार में नहीं रहना चाहते हैं। अब किसके कहते में कितने विधायक जाते हैं हैं या रुकते हैं तो विधानसभा का गणित क्या होगा |  क्या सच में विधायकों के टूटने से सरकार गिर जाएगी |  मध्यप्रदेश विधानसभा चुनाव 2018 में संपन्न होने के बाद दोनों ही बड़ी पार्टिया बहुमत में नहीं आ पाई , फिर शुरू हुई सरकार बनाने की कवायत जिसमे  कमलनाथ जोड़ तोड़ की सरकार बनाने सफल हो गए | मगर संकट के बदल लगातार कमलनाथ सरकार पर मंडराते रहते हैं | भाजपा भी संत नहीं हैं वो भी लगातार प्रयास करती रहती हैं कमलनाथ की सरकार गिराने की मध्यप्रदेश में भाजपा ने 15 साल शासन किया हैं | 2018 के विधानसभा चुनाव में मध्य प्रदेश में विधानसभा की कुल 230 थी  सरकार बनाने के लिए 116 सीटों की जरुरत थी। 2018 के चुनाव नतीजों के बाद कांग्रेस को 115 सीटों ही मिल सकी एक सीट काम पद गई | दूसरी तरफ भाजपा 108 आ कर रुक गई |  बसपा को 2 सीटें मिलीं। बाकि 5 सीटे निर्दलीयों व अन्य दलों के खाते में चली गई । फिलहाल  मध्यप्रदेश विधान सभा में कांग्रेस - 114 , भाजपा - 107 , बसपा- 2 , सपा- 1 , निर्दलीय- 4 और दो विधायकों के देहांत के बाद 2 सीटें खाली हैं | और इन खाली सीटों पर एक बार फिर सरकार बनने बिगड़ने का खेल हो सकता हैं | इसका आईना उपचुनाव बाद साफ़ होगा | मध्यप्रदेश विधानसभा की जौरा और आगर मालवा सीट पर उपचुनाव होने हैं। इन चुनावों का परिणाम भी कमलनाथ सरकार के भविष्य का फैसला कर सकता है। 

Patrakar amitabh upadhyay

amitabh upadhyay 4 March 2020


bhopal, Kamal Nath ,Government, Minister Rathore ,striving , bring Madhya Pradesh, Orchha

भोपाल। मध्यप्रदेश के बुंदेलखंड अंचल में स्थित प्रसिद्ध भगवान राम की ऐतिहासिक नगरी ओरछा में 6 मार्च से तीन दिवसीय 'नमस्ते ओरछा' महोत्सव प्रारंभ होने जा रहा है। आगामी 6 से 8 मार्च तक होने वाले नमस्ते ओरछा महोत्सव के लिए युद्ध स्तर पर तैयारियां चल रही है। मुख्य कार्यक्रम बेतवा नदी के कंचना घाट, शीशमहल प्रांगण और कल्प वृक्ष के परिसर पर आयोजित होगा। नमस्ते ओरछा के लिए प्रदेश सरकार ने करीब 50 करोड़ का बजट दिया है, जिससे यह आयोजन किया जाना है। पर्यटन नगरी में नमस्ते ओरछा महोत्सव का शुभारंभ मुख्यमंत्री कमलनाथ करेंगे।   गुरुवार को वाणिज्य कर मंत्री बृजेन्द्र सिंह राठौर ने गुरुवार को मीडिया से बातचीत में ओरछा महोत्सव की तैयारियों के बारे में जानकारी दी। उन्होंने बताया कि ओरछा मप्र का प्रवेश द्वार है और यहां तीन नदियों का संगम स्थल भी है। ऐसे में पर्यटन की दृष्टि से ओरछा के साथ मध्य प्रदेश को मानचित्र में किस तरह उचाईयों पर लाया जाए इसका पूरा प्रयास प्रदेश सरकार द्वारा किया जा रहा है। मंत्री राठौर ने कहा कि इसी मंशा के साथ 6,7,8 मार्च को ओरछा महोत्सव आयोजित किया जा रहा है। मुख्यमंत्री कमलनाथ स्वयं ओरछा महोत्सव को लेकर बेहद गंभीर है।    इस दौरान भाजपा पर हमला करते हुए वाणिज्य मंत्री राठौर ने कहा कि यहां भगवान राम राजा के रूप में रहते है। जिन लोगों ने राम के नाम पर वोट मांगे और सरकार बनाई उन्होंने कोई ऐसा काम नही किया लेकिन कांग्रेस ने राम के नाम पर वोट नही मांगा लेकिन इस क्षेत्र के विकास की बात जरूर की। बुंदेलखंड पैकेज में हुए भ्रष्टाचार पर उन्होंने कहा कि जिस तरह से विकास होना चाहिए बुंदेलखंड का वो नहीं हुआ। बुंदेलखंड दो भागों में बंटा है, आधा यूपी और आधा एमपी में है। पूर्व की मनमोहन सरकार ने बुंदेलखंड को विशेष पैकेज दिया था जो भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ गया। मंत्री राठौर ने कहा कि भ्रष्टाचार की जांच ईओडब्ल्यू से होनी चाहिए।    वाणिज्य कर मंत्री बृजेन्द्र राठौर ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से मांग करते हुए कहा कि वे बुंदेलखंड से सौतेला व्यवहार ना करें और बुंदेलखंड में पलायन, सूखा की तरफ ध्यान दिया जाए। मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश से प्रधानमंत्री समान व्यवहार रखे। उन्होंने कहा कि कोई भी शुभ काम होता है तो राजा राम के दरबार में मत्था टेका जाता है। मेरी मांग है कि पीएम मोदी वहां आकर मत्था टेके।    ऑनलाइन शराब घर-घर बेचने वाली बात हास्यास्पद   विपक्ष द्वारा सरकार की नई आबकारी नीति के तहत ऑनलाइन शराब बिक्री पर सवाल उठाए जाने पर मंत्री राठौर ने कहा कि ऑनलाइन शराब घर-घर बेचने वाली कोई बात नही है, जो इस तरह के बयान दे रहे है वो हंसी के पात्र बन रहे है। उन्होंने कहा कि पहले जिन लोगो के पॉकेट में पैसा जाता था वो हम बंद कर रहे है। हम राजस्व बढ़ाने के मकसद से काम कर रहे है ताकि जनता के हित की योजनाएं चला सकें। उन्होंने तंज कसते हुए कहा कि हम चोरी को रोककर राजस्व बढ़ा रहे है इसमें किसी को क्या तकलीफ हो रही है, यह समझ से परे है। 

Dakhal News

Dakhal News 27 February 2020


bhopal, Shivraj attacked, government, increasing crime , farmers problems

भोपाल। मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान हर मोर्चे पर प्रदेश की कमलनाथ सरकार को घेरने के लिए तैयार रहते हैं। वे सोशल मीडिया के माध्यम से सरकार पर हमला बोलते हैं। एक बार फिर उन्होंने प्रदेश में बढ़ रहे आपराधिक मामलों और किसानों की समस्या को लेकर कमलनाथ सरकार पर निशाना साधते हुए गंभीर आरोप लगाए हैं।    शिवराज ने गुरुवार को एक के बाद एक चार ट्वीट कर प्रदेश की कानून व्यवस्था, बढ़ते अपराध और किसानों की समस्या को लेकर प्रदेश सरकार पर हमला बोला है। उन्होंने अपने पहले ट्वीट में जबलपुर में हुई डेढ़ साल की मासूम बच्ची की हत्या के मामले में सरकार को जिम्मेदार ठहराया है। उन्होंने ट्वीट कर लिखा ‘प्रदेश सरकार की निष्क्रियता के कारण अपराधियों के हौसले बुलंद हैं। चारों तरफ अपहरण, लूट, हत्या, भ्रष्टाचार से हाहाकार मचा है और निकम्मी सरकार कुंभकर्णी निद्रा में सो रही है। सरकार को जऱा भी अपने कर्तव्य का भान है, तो मासूम बिटिया देविका और उसके परिवार को न्याय दे। जबलपुर की मासूम बेटी देविका के अनमोल जीवन को नरपिशाचों ने असमय छीन लिया। बेटी के ऐसे असामयिक दुखद निधन पर मेरी आत्मा चीत्कार रही है, दिल दर्द से भरा हुआ है। ईश्वर मासूम बिटिया की आत्मा को अपने श्री चरणों में स्थान और परिजनों को यह गहन दु:ख सहन करने की शक्ति प्रदान करें।   एक अन्य ट्वीट कर शिवराज सिंह चौहान ने किसान कर्जमाफी को लेकर सरकार का घेराव किया। उन्होंने एक अखबार में छपी खबर के हवाले से प्रदेश में कर्ज से परेशान किसान द्वारा आत्महत्या किए जाने का मामला उठाते हुए लिखा ‘मेरे प्रदेश का किसान परेशान है तो भला मैं कैसे चैन से बैठ जाऊं? हृदय पीड़ा से कराह रहा है। अब तो अन्याय की अति हो गई है। कमलनाथ जी, किसानों के साथ यह अन्याय बंद कीजिए, नहीं तो हम उनके हक की लड़ाई लडऩे के लिए सडक़ों पर उतरने को मजबूर होंगे। प्रत्येक दिन अखबार में किसी न किसी योजना का लाभ मध्यप्रदेश के लाभार्थियों को न मिलने की खबर पढ़ता हूँ। ऐसा कोई भी वर्ग नहीं होगा समाज का जो इस सरकार से त्रस्त न हो गया हो। कांग्रेसी नेता आजकल एक दूसरे को निपटाने के रोज नए-नए प्लान बना रहे हैं, इनके चक्कर में प्रदेश डूब रहा है’!  

Dakhal News

Dakhal News 27 February 2020


bhopal,  advertisement, government, former minister ,difference between words and actions

भोपाल। मध्यप्रदेश सरकार द्वारा अखबार में छपे एक विज्ञापन पर राजनीति शुरू हो गई है। विज्ञापन में मुख्यमंत्री कमलनाथ की फोटो के साथ राज्य सरकार की कई उपलब्धियां बताई गई है। जिसमेंं शुद्ध के लिए युद्ध अभियान के साथ रेत के अवैध उत्खनन पर रोक, ड्रग माफिया के खिलाफ कार्रवाई समेत तमाम दावे विज्ञापन के माध्यम से किये गए हैं। सरकार के इस विज्ञापन पर पूर्व मंत्री और भाजपा विधायक नरोत्तम मिश्रा ने हमला करते हुए निशाना साधा है।    बुधवार का मीडिया से बातचीत करते हुए नरोत्तम मिश्रा ने अखबार में छपे सरकार के विज्ञापन को लेकर कमलनाथ पर तंज कसा है। उन्होंने कहा कि आपका विज्ञापन आपको ही आईना दिखा रहा है। अगर रेत के अवैध उत्खनन पर रोक लगी है तो कंप्यूटर बाबा कैसे जा -जाकर अवैध उत्खनन पकड़ रहे है। आपके मंत्री ने ही माफी मांगी कि हम रेत का अवैध उत्खनन नहीं रोक पाए। उन्होंने कहा कि ड्रग माफिया मुक्त करने की बात कमलनाथ कर रहे हैं, जबकि शराब से ही 4000 करोड़ रुपये अतिरिक्त वसूलने के लिए आपने नई आबकारी नीति बनाई है। महिला सुरक्षा पर सरकार का घेराव करते हुए नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि आपका दावा है कि महिलाएं सुरक्षित हैं जबकि मंत्री ही कह रहे हैं कि बाहर निकलने में डर लगता है, महिलाएं असुरक्षित हैं। शुद्ध के लिये युद्ध अभियान पूरे प्रदेश में वसूली का अभियान बन गया है। भोपाल का बड़ा व्यावसायी तो अपना व्यवसाय बंद करके ही भाग गया। कथनी और करनी का साफ अंतर बताता है यह विज्ञापन।  

Dakhal News

Dakhal News 26 February 2020


bhopal, Big statement, former minister , administratively paralyzed , Madhya Pradesh

भोपाल। पूर्व मंत्री और भाजपा विधायक विश्वास सारंग ने प्रदेश सरकार के खिलाफ बड़ा बयान दिया है। बुधवार को मीडिया से बातचीत में विश्वास सारंग ने कहा है कि मध्यप्रदेश को प्रशासकीय रूप से लकवा लग चुका है। जब पैसे ले-देकर पोस्टिंग की जाएगी तो प्रशासन ठीक ढंग से काम नहीं करेगा। यह सरकार केवल शराब व्यापारियों की जी जेब भरने में लगी हुई है।   प्रदेश सरकार द्वारा अखबार में विज्ञापन के माध्यम से उपलब्धियों के दावे किए जाने पर पूर्व मंत्री विश्वास सारंग ने कहा कि बड़े-बड़े विज्ञापन दिए गए थे कि मप्र सरकार की रेत उत्खनन नीतियों के कारण करोड़ों रुपये का राजस्व प्राप्त हुआ है, लेकिन मप्र सरकार में आज भी अवैध उत्खनन हो रहा है। स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट में हो रही देरी पर पूर्व मंत्री ने कहा कि स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट को केवल इसलिए अटकाया जा रहा है क्योंकि कांग्रेस के नेताओं-मंत्रियों को लगता है कि वे इसे मुद्दा बनाकर आगामी नगरीय निकाय चुनाव में फ़ायदा ले सकते हैं।    विधायक सारंग ने आरोप लगाते हुए कहा कि डेढ़ साल में कांग्रेस ने केवल विभक्त करने की राजनीति की है। इनके लिए हर पेशे और क्षेत्र का व्यक्ति चाहे वो वकील हों, प्रशासकीय अधिकारी हों वह केवल कांग्रेस या भाजपा का कार्यकर्ता हो जाता है। प्रदेश में निवेश को लेकर सरकार पर हमला करते हुए पूर्व मंत्री सारंग ने कहा कि यह आश्चर्य की बात है कि जब मप्र सरकार निवेश की बात करती है तो ज़मीनी स्तर पर इसका कोई असर नहीं दिखता। कांग्रेस निवेश को आईफा अवार्ड से जोड़ती है। 

Dakhal News

Dakhal News 26 February 2020


damoh, Minister Jayawardhan Singh, handed over ,38 crore development works

दमोह। नगरीय विकास एवं आवास मंत्री जयवर्द्धन सिंह ने बुधवार को दमोह जिले में 38 करोड़ के विकास कार्यों का भूमिपूजन किया। जिसमें 5 करोड़ की लागत की सड़कें, 60 लाख के रैन-बसेरें, 78 लाख के फुटेरा तालाब लेक-व्यू रोड, 31 करोड़ 22 लाख के आवास योजना में स्वीकृत बीएलसी भवन और 98 लाख की लागत के विधायक निधि से स्वीकृत कार्य शामिल है।    इस दौरान उन्होंने 6 करोड़ 50 लाख रुपये बस-स्टैण्ड के सौंदर्यीकरण के लिये स्वीकृत करने की भी घोषणा की। सिंह ने दमोह नगर के 800 आवासहीन परिवारों को आवासीय पट्टे दिये जाने के निर्देश दिये। इन्हें पट्टे मिलने के बाद आवास बनाने के लिये राशि दी जायेगी। उन्होंने आवास योजना में निर्मित 41 ईडब्ल्यूएस भवनों का आवंटन एवं 20 हितग्राहियों को हित-लाभ वितरित किये।   मंत्री सिंह ने कहा कि जय किसान फसल ऋण माफी योजना के दूसरे चरण में जल्द ही दमोह तहसील के 3500 किसानों को 20 करोड़ के ऋण माफी प्रमाण-पत्र दिये जायेंगे। उन्होंने कहा कि आगामी 5 साल में हर पंचायत में एक गौ-शाला होगी। सिंह ने दमोह में 25 करोड़ की लागत से चल रहे नल-जल योजना का कार्य 30 जून तक पूरा करने के निर्देश दिये। उन्होंने बताया कि सामाजिक सुरक्षा पेंशन एक हजार रुपये की जायेगी।    सिंह ने कहा कि शहरी क्षेत्रों में आवासहीनों को आवासीय पट्टे देने के बाद उन्हें घर बनाने के लिये ढाई लाख रुपये भी दिये जायेंगे। आवासीय योजना में एक हजार परिवारों को गृह-प्रवेश करवाया जा रहा है। मुख्यमंत्री युवा स्वाभिमान योजना में प्रत्येक वार्ड से चार युवाओं को रोजगार दिलाया जायेगा। राष्ट्रीय आजीविका मिशन में महिला स्व-सहायता समूहों का गठन करवाया जा रहा है। इस मौके पर विधायक राहुल सिंह एवं अन्य जन-प्रतिनिधियों ने भी विचार व्यक्त किये।  

Dakhal News

Dakhal News 26 February 2020


bhopal,Kamal Nath, minister , Jyotiraditya Scindia, qualified candidate ,Rajya Sabha

भोपाल। राजसभा की रिक्त हो रही सीटों के लिए अधिसूचना जारी हो गई है। मप्र की 3 सीट का अप्रैल में कार्यकाल पूरा हो रहा है। अधिसूचना के अनुसार 26 मार्च को वोटिंग होगी और 30 मार्च को चुनाव की प्रक्रिया पूरी होगी। अधिसूचना जारी होते ही राजनीतिक दलों में सरगर्मी तेज हो गई है। इस बीच प्रदेश सरकार में परिवहन मंत्री गोविंद सिंह राजपूत ने ज्योतिरादित्य सिंधिया को राज्यसभा और प्रदेशाध्यक्ष दोनों ही पदों के लिए योग्य उम्मीदवार बताया है।    ज्योतिरादित्य सिंधिया को लेकर कांग्रेस में मचे घमासान के बीच कमलनाथ सरकार के परिवहन मंत्री गोविंद सिंह राजपूत का बड़ा बयान सामने आया है। मंगलवार को मीडिया से बातचीत करते हुए मंत्री राजपूत ने कहा कि कांग्रेस की कोर कमेटी जो तय करेगी वह राज्यसभा में जाएगा। ज्योतिरादित्य सिंधिया के नाम पर उन्होंने कहा कि यह मेरी व्यक्तिगत राय है कि सिंधिया कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष और राज्यसभा दोनों के लिए कैपेबल हैं उन्हें दोनों जगह जाना चाहिए।   पंजीयन और लाइसेंस दोनों के लिए होगाा यूनिफाइड कार्ड    इसके अलावा परिवहन मंत्री गोविंद सिंह राजपूत ने जानकारी देते हुए बताया कि मध्यप्रदेश देश का पहला राज्य होगा जिसमें पंजीयन और लाइसेंस दोनों के लिए एक यूनिफाइड कार्ड होगा। इसके साथ ही लाइसेंस के लिए यूनिफाइड कार्ड जारी करने के मामले में मध्यप्रदेश दूसरे स्थान पर रहेगा। फिलहाल पहले स्थान पर उत्तर प्रदेश है। इस कार्ड में लाइसेंस धारक की सभी जानकारियां जैसे पता, ब्लड ग्रुप, नाम व अन्य प्रकार की डिटेल्स होंगी।    वहीं मध्य प्रदेश सरकार द्वारा एक हजार करोड़ का ऋण लेने पर मंत्री गोविंद सिंह राजपूत ने कहा कि मध्य प्रदेश सरकार को अपने काम करने के लिए पैसों की आवश्यकता होती है। बहुत सारे काम हम अपने राजस्व से ही कर लेते हैं, जिसे ऋण माफी हो या खो जाने पर मुआवजा देना। 

Dakhal News

Dakhal News 25 February 2020


bhopal,  BJP MLA statement, Digvijay, write letter, construction of Ram temple

भोपाल। वरिष्ठ कांग्रेस नेता और मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने गत दिवस प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर अयोध्या में राममंदिर निर्माण के लिए ट्रस्ट बनाए जाने पर सवाल उठाए हैं। उनका कहना है कि मंदिर निमार्ण के लिए रामालय ट्रस्ट पहले से है तो नया ट्रस्ट बनाने की क्या जरूरत थी। दिग्विजय सिंह के पत्र को लेकर विपक्ष में बैठी भाजपा हमलावर हो गई है। भाजपा विधायक रामेश्वर शर्मा ने दिग्विजय सिंह पर आरोप लगाते हुए निशाना साधा है।    मंगलवार को भाजपा विधायक रामेश्वर शर्मा ने मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि दिग्विजय सिंह ने कभी भी श्रीराम मंदिर के लिए या कार सेवकों के लिए अपनी संवेदनाएं व्यक्त नही की। वह जब भी बोले बाबरी मस्जिद और मुसलमानों के पक्ष में विधवा विलाप करते नजर आए है। उन्होंने कहा कि दिग्विजय सिंह ने आज भी जो पत्र लिखा है उसमें श्रीराम मंदिर की चिंता नही अपितु बाबरी मस्जिद टूटने का दर्द छलक रहा है। वह दर्द वैसा ही है जैसा दर्द पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान को होता है। दिग्विजय सिंह और पूरी काँग्रेस वर्षो तक श्रीराम मंदिर में रोड़ा बनी रही। यह वही दिग्विजय सिंह जी है जिन्होंने कार सेवकों की मौत पर मुलायम सिंह का धन्यवाद दिया था। रामेश्वर शर्मा ने कहा कि श्रीराम मंदिर निर्माण के लिए सुप्रीम कोर्ट ने जो निर्देश दिए है मोदी सरकार उसका अक्षरश: पालन कर रही है। दिग्विजय सिंह को कम-से-कम श्रीराम मंदिर निर्माण पर पत्र लिखने का कोई अधिकार नहीं है।

Dakhal News

Dakhal News 25 February 2020


murena,  Chief Minister, Kamal Nath , inaugurate 60 police houses

मुरैना।  प्रदेश के मुरैना जिला मुख्यालय पर पुलिस के लिये निर्मित 60 आवास का लोकार्पण बुधवार, 26 फरवरी को मुख्यमंत्री कमलनाथ करेंगे। इस अवसर पर उनके साथ गृहमंत्री बाला बच्चन, स्वास्थ्य मंत्री तुलसीराम सिलावट, जिले के प्रभारी मंत्री लाखन सिंह यादव, मुरैना विधायक रघुराज सिंह कंषाना, पुलिस महानिदेशक विजय कुमार सिंह, अध्यक्ष मध्यप्रदेश पुलिस हाउसिंग बोर्ड शैलेन्द्र श्रीवास्तव सहित चम्बल संभाग के पुलिस व प्रशासनिक अधिकारी उपस्थित रहेंगे।    जिला मुख्यालय मुरैना में यह आवास मध्यप्रदेश पुलिस हाउसिंग बोर्ड द्वारा निर्मित कराये गये हैं। प्रदेश के मुख्यमंत्री सहित सभी अतिथि बुधवार सुबह 10 बजे मुरैना पधारेंगे। पुलिस अधीक्षक डॉ. असित यादव ने मंगलवार को बताया कि लोकार्पण समारोह की तैयारियों को अंतिम रूप दिया जा रहा है। इन आवासों के बनने से 12 अराजपत्रित अधिकारियों तथा 48 आरक्षकों के आवास की समस्या का निदान हो जायेगा।  

Dakhal News

Dakhal News 25 February 2020


ashoknagar,  Digvijay Singh, Ashoknagar, after 17 years, creating district

अशोकनगर। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कांग्रेस दिग्विजय सिंह सोमवार, 24 फरवरी को अशोकनगर आएंगे। वैसे तो दिग्विजय सिंह का अशोकनगर के पड़ोसी जिला गुना का राधौगढ़ ग्रह निवास है, लेकिन उनका अशोकनगर आगमन 17 वर्षों के बाद हो रहा है।    15 अगस्त वर्ष 2003 में उनके द्वारा गुना से अलग कर अशोकनगर को जिले की सौगात देने के अवसर पर उनका आगमन कुछ विशेष परिस्थितियों में हुआ था। जैसे की अशोकनगर आगमन पर किसी मुख्यमंत्री की पद से हटने के अंधविश्वास की चुनौती को स्वीकार करते हुए उनका यहां आगमन हुआ था और उनके अशोकनगर आगमन के पश्चात वह मुख्यमंत्री के पद से हट भी गए थे, फिर मुख्यमंत्री नहीं बन सके थे। अब इतने अंतराल के बाद दिग्विजय सिंह का अशोकनगर आगमन हो रहा है।   नहीं करायेंगे फूल मालाओं से स्वागत   वैसे तो पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह चंदेरी विधायक गोपाल सिंह चौहान के यहां शादी समारोह के पश्चात दोपहर अशोकनगर के पूर्व विधायक स्व.बलबीर सिंह कुशवाह के यहां श्रद्धांजली हेतु पहुंचेंगे। यहां आगमन पर उनके अधिकृत कार्यक्रम में विशेष तौर पर एक नोट दर्शाया गया है जिसमें कार्यकर्ताओं,प्रशंषकों, समर्थकों से अनुरोध कर कहा गया है कि उनके आगमन के सगत अवसर पर ढोल-ढमाके, फूल मालायें,पटाखे, फ्लैक्स आदि का उपयोग करने पर किसी प्रकार का व्यय न किया जाए, इनके बिना ही उन्हें सभी से मिलने में प्रशन्नता होगी।    सिंधिया के स्वागत में क्वुंटलों फूलों से हुआ था स्वागत   जहां एक तरफ दिग्विजय सिंह ने उनके यहां आगमन पर स्वागत सत्कार से परहेज किया है, वहीं गत 14 फरवरी को पूर्व सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने क्वुंटलों फूलों से अपना स्वागत कराया था और पूरे नगर को बैनर-पोस्टरों से पाट दिया गया था। इस तरह ज्योतिरादित्य सिंधिया द्वारा बड़े स्तर पर स्वागत-सत्कार कराने के पश्चात कांग्रेस में उनके प्रतिद्धंदी कहे जाने वाले दिग्विजय सिंह द्वारा सादगी का परिचय देना राजनैतिक हल्कों में चर्चा का विषय है।  

Dakhal News

Dakhal News 23 February 2020


damoh,  MP government, priority legislator, make maximum construction , cowsheds

दमोह। विधायक राहुल सिंह ने कहा कि प्रदेश की कमलनाथ सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता है कि गौशालाओं का अधिक से अधिक निर्माण हो, ताकि गौमाता का संरक्षण और संवर्धन हो सके। उन्होंने कहा जिले में प्रथम चरण में 21 गौशालाओं का निर्माण चल रहा है, जिसमें से एक गौशाला का शुभारंभ किया जा रहा है। आने वाले दिनों में अन्य गौशालाओं का भी शुभारंभ किया जायेगा। उक्‍त बातें विधायक सिंह ने रविवार को ग्राम पंचायत सेमरा मढ़िया (पटना खुर्द) में "मुख्यमंत्री गौसेवा योजना" के तहत 27 लाख 50 हजार रुपये की लागत से बनी जिले की प्रथम आदर्श गौशाला का लोकार्पण करते हुए कही।    इस मौके पर विधायक सिंह ने गौशालाओं के संचालन आदि के संबंध में जानकारी लेकर संबंधित अधिकारियों को आवश्यक दिशा निर्देश भी दिये। इसके साथ ही उन्‍होंने अतिरिक्त टीन शेड निर्माण के लिए पांच लाख की राशि विधायक निधि से देने का आश्‍वासन दिया। गौशाला में लगभग 100 गऊ वंश के रहने की क्षमता हैं।   गौरतलब है कि मुख्यमंत्री गौसेवा योजना तहत 21 गौशालाओं का लक्ष्य जिले को प्राप्त हुआ था, जिसमें आठ गौशाला बनकर तैयार हो चुकी हैं। गौशाला के लिए दानदाताओं ने भी आगे आकर दान दिया। गौशाला के लोकार्पण अवसर पर ग्रामीण ब्लॉक काग्रेस कमेटी अध्यक्ष झुन्नीलाल पटेल सहित अन्य जनप्रतिनिधि एवं गणमान्य नागरिक उपस्थित रहे।  

Dakhal News

Dakhal News 23 February 2020


guna, imarti, Digvijay missing from hoardings, Scindia ,talk in closed room

गुना। लंबे समय बाद पूर्व केन्द्रीय मंत्री एवं गुना-शिवपुरी के पूर्व सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया और पूर्व मुख्यमंत्री व कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं की 24 फरवरी को दोपहर के समय गुना सर्किट हाउस के बंद कमरे में चर्चा होगी। राजनीतिज्ञों के अनुसार इन दोनों के बीच आगामी राज्यसभा के होने वाले चुनाव और मप्र के कांग्रेस अध्यक्ष को लेकर चर्चा हो सकती है। सिंधिया के आगमन को देखते हुए श्रम मंत्री महेन्द्र सिंह सिसौदिया के नेतृत्व में कांग्रेसजनों द्वारा स्वागत की तैयारियां चल रही हैं। इसके लिए शहर में लगे होर्डिंगों से जहां जिले के प्रभारी मंत्री इमरती देवी गायब हैं, वहीं पूर्व मु यमंत्री दिग्विजय सिंह भी यहां लगे बैनरों में कहीं नजर नहीं आ रहे हैं। इन होर्डिंगों से  साफ नजर आ रहा है कि कांग्रेस गुटबाजी की शिकार है, जिसके चलते होर्डिगों से सिंधिया समर्थक इमरती के साथ-साथ दिग्विजय सिंह का फोटो गायब कर दिया है।  यह बात अलग है कि दिग्विजय सिंह ने कांग्रेसजनों से होर्डिंग के रूप में अपव्यय न करने का आग्रह किया है। इन होर्डिंगों के बहाने कांग्रेसियों के बीच शक्ति प्रदर्शन हो रहा है। अलग-अलग नेताओं ने अपने-अपने वरिष्ठ नेताओं के फोटो वाले होर्डिंग लगाए हैं। शहर को होर्डिंग से पाट दिया है, बिजली के खंबे व विभिन्न कंपनियों के होर्डिगों पर भी ये होर्डिंग टंगे हैं।इनमें से अधिकतर बगैर अनुमति के लगे हैं।   सवा बारह बजे आएंगे दिग्विजय  निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह काफी समय बाद गुना के अल्प प्रवास पर 24 फरवरी को दोपहर सवा बारह बजे आएंगे। यहां आने के बाद पायगा मोहल्ला स्थित सत्येन्द्र तिवारी के निवास पर और वहां से पौने एक बजे हड्डी मिल बजरंगगढ़ रोड पर अ तर खान के निवास पर शोक व्यक्त करने जाएंगे। पूर्व मु यमंत्री एवं राज्यसभा सदस्य दिग्विजय सिंह 1.15 बजे सर्किट हाउस जाएंगे जहां वे अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के  महासचिव ज्योतिरादित्य सिंधिया से भेंट करेंगे। दोपहर दो बजे वे गुना से इंदौर के लिए रवाना हो जाएंगे।   साढ़े तीन बजे सर्किट हाउस पहुंचेंगे सिंधिया  पूर्व केन्द्रीय मंत्री व सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया 24 फरवरी को दोपहर 1 बजे करीब चार घंटे के अल्प प्रवास पर गुना आएंगे।  वे आरोन रोड से जयस्तम्भ चौराहा आएंगे, उनको जय स्तम्भ चौराहे सर्किट हाउस तक पैदल ले जाया जाएगा। सिंधिया के निर्धारित कार्यक्रम अनुसार सिंधिया 24 फरवरी को दोपहर साढ़े तीन बजे सर्किट हाउस पहुंचेंगे। जहां विभिन्न संगठनों व गणमान्य नागरिकों से चर्चा करेंंगे।  इसके बाद वे शहर के कई क्षेत्रों में जाएंगे। सायं 4.4० बजे गुना से चंदेरी के लिए रवाना होंगे।    इमरती आईं, चौधरी, राजपूत, सिलावट आज आएंगे  अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के महासचिव ज्योतिरादित्य सिंधिया के गुना आगमन को देखते हुए जिले की प्रभारी मंत्री इमरती देवी रविवार को सायं पांच बजे करीब गुना आईं, यहां आने के बाद उन्होंने कांग्रेस कार्यालय में कांग्रेस एवं उसके मोर्चा व संगठनों के पदाधिकारियों की बैठक ली और उनसे तैयारियों को लेकर चर्चा की।प्रदेश के स्कूल शिक्षा मंत्री प्रभूराम चौधरी, स्वास्थ्य मंत्री तुलसी सिलावट, महिला एवं बाल विकास मंत्री इमरती देवी, परिवहन मंत्री गोविन्द राजपूत, खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर कल 24 फरवरी को सुबह के समय गुना आएंगे।    सिंधिया,दिग्विजय और मंत्रियों की सुरक्षा कड़ी सोमवार को पूर्व केन्द्रीय मंत्री सिंधिया जिनको जेड प्लस की सुरक्षा मिली हुई है, उनके अलावा पूर्व मुख्यमंत्री व राज्यसभा सदस्य दिग्विजय सिंह के अलावा प्रदेश की महिला एवं बाल विकास मंत्री इमरती देवी, स्कूल शिक्षा मंत्री प्रभुराम चौधरी, स्वास्थ्य मंत्री तुलसी सिलावट, परिवहन मंत्री गोविन्द राजपूत के आगमन को देखते हुए पुलिस प्रशासन ने सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी है। सौ से अधिक पुलिस अधिकारी व कर्मियों को अलग-अलग जगह ड्यूटी बतौर तैनात किया है। इसके साथ ही यातायात बाधित न हो, इसकी भी समुचित व्यवस्था की गई है।  

Dakhal News

Dakhal News 23 February 2020


shivpuri,  Union Minister Tomar, taunted , controversy going , MP Congress

शिवपुरी। मप्र में मुख्यमंत्री कमलनाथ और ज्योतिरादित्य सिंधिया के बीच चल रहे घमासान पर अब विपक्षी नेता भी चुटकी ले रहे हैं। केन्द्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने भी इसको लेकर बिना नाम लिए बोला सिंधिया पर हमला बोला है। शनिवार को शिवपुरी जिले के पोहरी पहुंचे नरेंद्र सिंह तोमर ने बिना नाम लिए चुटकी लेते हुए कहा कि जहाँ लड़ाई होती है, वहाँ पर स्वार्थ होता है। जिन लोगों को कुछ नहीं मिल रहा तो वो लोग टेटे-टेटे कर रहे हैं।    गौरतलब है कि इस समय मप्र कांग्रेस में कमलनाथ और ज्योतिरादित्य सिंधिया के बीच बयानबाजी का दौर जारी है। इससे पहले शिवपुरी में एक सिंधिया समर्थक नेता ने कमलनाथ के खिलाफ पोस्टर तक लगवा दिया था। वहीं एक नेत्री ने तो सिंधिया को अपने पिता की तर्ज पर विकास कांग्रेस पार्टी बनाने की सलाह दे डाली थी। 

Dakhal News

Dakhal News 22 February 2020


bhopal, Two IAS officers, transferred again , Madhya Pradesh

भोपाल। मध्यप्रदेश में करीब सवा साल पहले हुए सत्ता परिवर्तन के बाद से अधिकारियों-कर्मचारियों का तबादलों का दौर शुरू हो गया था, जो अब तक जारी है। बीती रात ही राज्य सरकार ने भारतीय प्रशासनिक सेवा (आईएएस) के 13 अधिकारियों का तबादला किया था। इसके बाद शनिवार को फिर दो आईएएस अधिकारियों को तबादला करते हुए उनकी नवीन पदस्थापना की है। राज्य शासन ने इस संबंध में शनिवार को आदेश जारी कर दिये हैं।  प्रदेश सरकार द्वारा जारी तबादला आदेश के मुताबिक, सागर संभाग के कमिश्नर आनंद कुमार शर्मा को उज्जैन संभाग का कमिश्नर नियुक्त किया गया है। वहीं, उज्जैन संभाग के कमिश्नर अजीत कुमार को भोपाल बुलाया गया है। उन्हें यहां आरसीवीपी नरोन्हा प्रशासन एवं प्रबंधकीय अकादमी का संचालक बनाया गया है। फिलहाल सागर कमिश्नर के रिक्त हुए पद पर कोई नियुक्ति नहीं की गई है। 

Dakhal News

Dakhal News 22 February 2020


guna, Digvijay singh, Scindia, meet circuit house

गुना। एक दशक बाद पूर्व केन्द्रीय मंत्री व गुना-शिवपुरी संसदीय क्षेत्र के पूर्व सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया और पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह का 24 फरवरी को गुना सर्किट हाउस में मिलन होगा। इन दोनों नेताओं के अलावा इस समय प्रदेश के छह मंत्री भी मौजूद रहेंगे। सिंधिया व दिग्विजय सिंह के आगमन की खबर के बाद कांग्रेसजनों ने अपने-अपने नेता का भव्य स्वागत करने की तैयारियां शुरू कर दी हैं।   खबर है कि दोनों नेताओं के स्वागत की होड़ में कांग्रेसजनों के बीच शक्ति प्रदर्शन हो सकता है। इन दोनों के आगमन को देखते हुए सुरक्षा बतौर पुलिस प्रशासन ने कड़ी सुरक्षा व्यवस्था की है। सौ से अधिक पुलिस अधिकारी व कर्मियों को 24 फरवरी को अलग-अलग ड्यूटी में तैनात किया है। इसकी वजह ये है कि सिंधिया को जेड प्लस की सुरक्षा मिली हुई है। सिंधिया के स्वागत की तैयारियां श्रम मंत्री महेन्द्र सिंह सिसौदिया के नेतृत्व में तेजी से चल रही हैं, इसके साथ ही होडिगों की शहर में बाढ़ सी आ गई है।    निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार दिग्विजय सिंह काफी समय बाद गुना के अल्प प्रवास पर 24 फरवरी को दोपहर सवा बारह बजे आएंगे। यहां आने के बाद पायगा मोहल्ला स्थित सत्येन्द्र तिवारी के निवास और वहां से पौने एक बजे हड्डी मिल बजरंगगढ़ रोड पर अतर खान के निवास पर शोक व्यक्त करने जाएंगे। पूर्व मुयमंत्री एवं राज्यसभा सदस्य दिग्विजय सिंह 1.15 बजे सर्किट हाउस जाएंगे जहां वे अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के  महासचिव ज्योतिरादित्य सिंधिया से भेंट करेंगे। दोपहर दो बजे वे गुना से इंदौर के लिए रवाना हो जाएंगे।   सिंधिया दोपहर में आएंगे गुना    पूर्व केन्द्रीय मंत्री व सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया 24 फरवरी को दोपहर 1 बजे करीब चार घंटे के अल्प प्रवास पर गुना आएंगे। वे आरोन रोड से जयस्तम्भ चौराहा आएंगे, उनको जयस्तंभ चौराहे सर्किट हाउस तक पैदल ले जाया जाएगा। सिंधिया के निर्धारित कार्यक्रम अनुसार सिंधिया दोपहर साढ़े तीन बजे सर्किट हाउस पहुंचेंगे। इसके बाद वे शहर के कई क्षेत्रों में जाएंगे। सायं 4.40 बजे गुना से चंदेरी के लिए रवाना होंगे। सिंधिया के आगमन को देखते हुए श्रम मंत्री महेन्द्र सिंह सिसौदिया के नेतृत्व में कांग्रेस जन स्वागत की तैयारियों में जुट गए हैं। सिंधिया के स्वागत के लिए कांगे्रेसजनों की बैठक अलग-अलग स्थानों पर चल रही है।    ये मंत्री भी आएंगे गुना    प्रदेश के स्कूल शिक्षा मंत्री प्रभूराम चौधरी, स्वास्थ्य मंत्री तुलसी सिलावट, महिला बाल विकास मंत्री इमरती देवी, परिवहन मंत्री गोविन्द राजपूत, खाद्य मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर गुना आएंगे। श्रम मंत्री महेन्द्र सिंह सिसौदिया भी शामिल रहेेंगे। स्कूल शिक्षा मंत्री प्रभूराम चौधरी 24 फरवरी को सुबह साढ़े नौ बजे भोपाल से चलकर एक बजे गुना आएंगे। प्रदेश की महिला एवं बाल विकास मंंत्री इमरती देवी 23 फरवरी को साढ़े तीन बजे गुना आ जाएंगी, 24 फरवरी को यहां रहने के बाद सायं पांच बजे गुना से ग्वालियर के लिए प्रस्थान करेंगी।   सिंधिया के स्वागत के लिए मांडरे ने ली बैठक   उधर पूर्व केन्द्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया के आगमन को देखते हुए महिला कांग्रेस ने भी स्वागत की तैयारियों के लिए शनिवार को बैठक की, इस बैठक की अध्यक्षता प्रदेश महिला कांग्रेस की कार्यकारी अध्यक्ष वंदना मांडरे ने की। उन्होंने महिला नेत्रियों से कहा कि सिंधिया के स्वागत के लिए अधिक से अधिक महिला नेत्रियों को लाएं।   

Dakhal News

Dakhal News 22 February 2020


bhopal,  Leader of Opposition,gopal bhargav, Kamal Nath blog

भोपाल। मुख्यमंत्री कमलनाथ द्वारा एक ब्लाग लिखकर मप्र की वर्तमान आर्थिक स्थिति के लिए केन्द्र की मोदी सरकार और मप्र की पूर्ववर्ती शिवराज सरकार को जिम्मेदार ठहराए जाने के बाद विपक्ष के हमले तेज हो गए है। पूर्व मंत्री नरोत्तम मिश्रा के बाद अब नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव ने सीएम कमलनाथ के ब्लाग को हास्यास्पद बताते हुए पलटवार किया है।    नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव ने एक लंबा चौड़ा ट्वीट कर सीएम कमलनाथ के ब्लाग पर सवाल उठाते हुए उन्हें सवालों के कठघरे में खड़ा किया है। साथ ही नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव ने सीएम कमलनाथ पर झूठी घोषणाएं कर जनता को गुमराह करने का आरोप लगाया है। गोपाल भार्गव ने ट्वीट कर लिखा ‘मुख्यमंत्री @OfficeOfKNath ने अपने ब्लॉग में जो बातें कही है वह हास्यास्पद तो है ही लेकिन उनकी पद की गरिमा के विरुद्ध भी है। अपने प्रदेश की समस्याओं की ओर न देखकर प्रधानमंत्री @narendramodi जी और केंद्र पर आक्षेप करके मुख्यमंत्री प्रदेश की जनता को विषयों से भटका रहे हैं।    एक अन्य ट्वीट कर उन्होंने लिखा ‘ऐसी एक-दो नहीं सैकड़ों घोषणा करके उन्होंने 5 सीटें भाजपा से ज्यादा हासिल कर ली। अब जब कांग्रेस की सरकार बने 14 महीने हो चुके हैं, अब तक एक भी घोषणा पूरी नहीं हुई है। @INCMP सरकार के प्रति प्रदेश में भीषण जन आक्रोश है। जनता के बढ़ते दबाव से कांग्रेस के बड़े नेता प्रदेश सरकार के खिलाफ बयान बाजी कर रहे हैं। इन सबके कारण मुख्यमंत्री चिंतित हैं और इसी कारण वह लगातार केंद्र सरकार के विरुद्ध अनर्गल और तथ्यहीन बयानबाजी कर रहे हैं। लेकिन इससे मुख्यमंत्री जी को कोई लाभ नहीं होने वाला।

Dakhal News

Dakhal News 21 February 2020


bhopal,  State government, preparation, conducting elections , urban bodies ,panchayat ballots

भोपाल। मध्यप्रदेश में नगरीय निकाय और पंचायत चुनाव ईवीएम के बजाए बैलेट पेपर से हो सकते हैं। इसके लिए सरकार ने तैयारियां शुरू कर दी हैं। दरअसल, पिछले दिनों मुख्यमंत्री कमलनाथ और निर्वाचन आयुक्त की मुलाकात में बैलेट पेपर से चुनाव कराने के संबंध में चर्चा हुई थी। जिसमें चुनाव आयोग ने तर्क दिया कि अभी ऐसा कराया जाना संभव नहीं है। इसके लिए वक्त चाहिए। इसी के मद्देनजर मई में होने वाले चुनाव छह माह के लिए टाले जा सकते हैं।  प्रदेश के मंत्री भी इस बात पर सहमत हैं कि भले ही चुनाव में देर हो, लेकिन इसे बैलेट पेपर से ही कराया जाना चाहिए। ईवीएम से चुनाव कराए जाने से भाजपा गड़बड़ी कर सकती है। अब यह मामला मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी के पास जाएगा। वही इस पर फैसला लेंगे। जिस तरह की तैयारी चल रही हैं, उसे देखकर संभावना जताई जा रही है कि नगरीय निकाय और पंचायत चुनाव अक्टूबर-नवम्बर तक हो सकते हैं। मध्यप्रदेश में बोर्ड की परीक्षाएं खत्म होने के बाद अप्रैल-मई से चुनावों का सिलसिला शुरू हो जाएगा, जो सालभर चल सकता है। सबसे पहले त्रिस्तरीय पंचायतराज (जिला, जनपद और पंचायत) संस्थाओं के चुनाव कराने की तैयारी है। इसके बीच जौरा और आगर विधानसभा के उपचुनाव भी संभावित हैं। अक्टूबर में नगरीय निकाय चुनाव कराया जाना प्रस्तावित है। वहीं, सहकारी समितियों के चुनाव फरवरी 2018 से नहीं हुए हैं तो कृषि उपज मंडियों के चुनाव भी लंबित हैं। बताया जा रहा है कि इन चुनावों के मद्देनजर जो आदर्श आचरण संहिता लागू होगी, उससे संबंधित क्षेत्रों में न सिर्फ कामों की गति रुकेगी बल्कि नए काम भी नहीं होंगे। सूत्रों के मुताबिक सरकार ने अब चुनाव मैदान में उतरने की तैयारी कर ली है। सबसे पहले अप्रैल-मई में 52 जिला पंचायत, 313 जनपद पंचायत और 23 हजार 922 पंचायतों के चुनाव कराए जाएंगे। जिला पंचायत अध्यक्ष को छोडक़र बाकी पदों के लिए आरक्षण की प्रक्रिया पूरी हो चुकी है।

Dakhal News

Dakhal News 21 February 2020


bhopal, Kamal Nath government ,withdraws order ,against MPHW

भोपाल। प्रदेश की कमलनाथ सरकार ने नसबंदी का लक्ष्य पूरा न करने पर पुरुष बहुउद्देशीय स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं का वेतन काटने और अनिवार्य सेवानिवृत्ति देने का आदेश वापस ले लिया है। सरकार के इस आदेश का प्रदेश में तीखा विरोध हुआ था और इसे लेकर विपक्षी भाजपा ने सरकार पर हमले तेज कर दिये थे।    मध्यप्रदेश सरकार ने उन पुरुष बहुउद्देश्यीय स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं (MPHWs) की सूची तैयार करने का आदेश दिया था, जो साल 2019-20 में एक भी पुरुष की नसबंदी नहीं करा पाए। प्रदेश सरकार ने ऐसे कार्यकर्ताओं का वेतन रोकने और उन्हें जबरन रिटायर करने की चेतावनी दी थी। स्वास्थ्य विभाग ने बीते 11 फरवरी को यह आदेश जारी किया गया था, जिसमें साफ कहा गया था कि जो पुरुष बहुउद्देश्यीय स्वास्थ्य कार्यकर्ता साल 2019-20 में नसबंदी के लिए एक भी आदमी नहीं जुटा पाए हैं, उनका वेतन वापस लिया जाए और उन्हें अनिवार्य सेवानिवृत्ति दी जाए।  गौरतलब है कि परिवार नियोजन कार्यक्रम में कर्मचारियों के लिए 5 से 10 पुरुषों की नसबंदी कराना अनिवार्य किया गया है।    विरोध हुआ, तो वापस लिया आदेश   प्रदेश सरकार के इस आदेश का तीखा विरोध शुरू हो गया था। विरोध करने वालों में कर्मचारी संगठन तो थे ही, विपक्षी भाजपा के नेता भी इस आदेश के लिए सरकार की आलोचना कर रहे थे। पूर्व मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने तो इसे आपातकाल की वापसी कहते हुए कांग्रेस सरकार की इमर्जेन्सी पार्ट-2 करार दिया था। आदेश का विरोध तेज होता देख कमलनाथ सरकार ने शुक्रवार दोपहर में अपने ही इस आदेश को वापस ले लिया। जनसंपर्क मंत्री पी.सी.शर्मा ने इसकी जानकारी मीडिया को दी। उन्होंने यह भी कहा कि जिस अधिकारी ने यह आदेश जारी किया था, उसके खिलाफ कार्रवाई की अनुशंसा की जा रही है। 

Dakhal News

Dakhal News 21 February 2020


guna,  Jayawardhan Singh, inaugurated, Aajeevika Bhavan

गुना। नगरीय विकास एवं आवास मंत्री जयवर्द्धन सिंह ने गुना जिले के आरोन में ग्रामीण आजीविका मिशन के अन्तर्गत 40 लाख की लागत से निर्मित आजीविका भवन का लोकार्पण किया। सिंह ने कहा कि आजीविका मिशन के समूह राशि का सदुपयोग कर व्यवसाय को बढ़ाने का प्रयास करें ।   उन्होने कहा कि महिलाएँ सशक्त होंगी तो प्रदेश भी सशक्त होगा । उन्होंने महिला स्व-सहायता समूह की सदस्यों को ऋण स्वीकृति पत्र दिया । बैंक सीसीएल की राशि 8 लाख रूपये के स्वीकृति पत्र 4 समूहों को दिए गए । कार्यक्रम में 32 गांवों के 47 समूहों को 93 व्यक्तिगत गतिविधियों के लिये 18 लाख 51 हजार रूपये स्वीकृत किए गए । सिंह ने महिला स्व-सहायता समूहों द्वारा बनाई गयी समग्रियों की प्रशंसा की ।    निर्माण कार्यों का भूमि-पूजन   सिंह ने नगर परिषद आरोन में रैन बसेरा, आशा रानी देवी जी बस-स्टैण्ड के जीर्णोद्धार एवं अन्य निर्माण कार्यों का भूमि-पूजन किया।शासकीय महाविद्यालय आरोन के वार्षिकोत्सव में उल्लेखनीय उपलब्धि हासिल करने वाले विद्यार्थियों को सम्मानित किया। उन्होंने कहा कि कॉलेज में इन्डोर स्टेडियम नगरीय विकास एवं आवास विभाग द्वारा बनवाया जाएगा। उन्होंने कहा कि कॉलेज में ऑडिटोरियम का निर्माण करवाने का भी प्रयास करेंगे। सिंह ने कहा कि विद्यार्थी समय का सदुपयोग कर अपना भविष्य सवारें।   कौटिल्य अकादमी में बच्चों से भेंट   कौटिल्य अकादमी में कोचिंग ले रहे बच्चों से चर्चा कर उनकी पढ़ाई के बारे में जानकारी ली। उन्होंने कहा कि बेहतर पढ़ाई कर जिले का नाम रोशन करें। गौरतलब है कि सिंह के प्रयासों से अकादमी में बच्चों को नि:शुल्क कोचिंग दी जा रही है।   निर्माण कार्यों का निरीक्षण   नगरीय विकास एवं आवास मंत्री ने आरोन नगर में 5 करोड़ की लागत के निर्माणाधीन स्टेडियम का निरीक्षण किया। उन्होंने कार्य समय-सीमा में पूरा करने के निर्देश दिए। पार्कों का अवलोकन कर उनके सौन्दर्यीकरण का प्रस्ताव भेजने के भी निर्देश दिए । इस दौरान स्थानीय जन-प्रतिनिधि एवं विभागीय अधिकारी उपस्थित थे ।

Dakhal News

Dakhal News 20 February 2020


bhopal,  Chief Minister Kamal Nath, wishes Mahashivratri

भोपाल। मुख्यमंत्री कमलनाथ ने महाशिवरात्रि के पावन पर्व पर प्रदेशवासियों को बधाई और शुभकामनाएं दी हैं।   मुख्यमंत्री ने अपने शुभकामना संदेश में कहा कि शिवरात्रि भारत की आध्यात्मिक संस्कृति का पर्व है। उन्होंने कहा कि भगवान शंकर सभी देवों के आराध्य हैं। वे सृजन के देव है।   कमलनाथ ने कहा कि महाशिवरात्रि सर्वाधिक महत्व का धार्मिक अवसर है, जब सभी समुदाय शिव भक्ति में रम जाते हैं। यह अवसर भक्तों को समर्पण भाव के साथ रचनात्मक काम करने की प्रेरणा देता है। 

Dakhal News

Dakhal News 20 February 2020


guna, Scindia ,once again come,congressmen , preparation for welcome

गुना। पूर्व केन्द्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया का गुना आगमन एक  बार फिर आने का कार्यक्रम बन गया है। वे 24 फरवरी को अल्प प्रवास पर गुना आएंगे। उनके आगमन को देखते हुए कांग्रेसजन स्वागत की तैयारियों में लग गए हैं। महिला कांग्रेस की एक बैठक 22 फरवरी को राखन बिल्डिंग सिंधिया कार्यालय पर दोपहर तीन बजे रखी है।   बीते दिनों में पूर्व केन्द्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया का तीन बार गुना आने का प्रोग्राम निरस्त हुआ है। एक बार फिर 24 फरवरी को दोपहर एक बजे सिंधिया गुना आएंगे। वे यहां आने के बाद जयस्त भ चौराहे से सर्किट हाउस तक पैदल जुलूस के रूप में आएंगे। यहां वे विभिन्न संगठनों आदि से चर्चा करेंगे। इसके बाद सिंधिया कुछ कांग्रेसजनों, व्यापारियों आदि के यहां स्वर्ग सिधार गए लोगों के प्रति अपनी शोक संवेदनाएं व्यक्त करने उनके निवास पर भी जाएंगे। चर्चा ऐसी है कि सिंधिया उसी दिन कृषि उपज मंडी प्रागंण में नवनिर्मित माधवराव सिंधिया के नाम से बने प्रवेश द्वार का लोकार्पण भी कर सकते हैं। 

Dakhal News

Dakhal News 20 February 2020


bhopal, Kamanath,  former minister,  road himself, accept Scindia only

भोपाल। मुख्यमंत्री कमलनाथ और वरिष्ठ कांग्रेस नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया के बीच चल आपसी खटपट पर विपक्ष राजनीति करने का कोई मौका नहीं छोड़ रहा है। पूर्व मंत्री और भाजपा विधायक नरोत्तम मिश्रा ने कांग्रेस में मचे घमासान और कलह पर चुटकी ली है। उन्होंने ज्योतिरादित्य सिंधिया को समर्पित नेता बताते हुए सीएम कमलनाथ पर तंज कसा है।    बुधवार को मीडिया से बातचीत में नरोत्तम मिश्रा ने सिंधिया को समर्पित कांग्रेसी बताते हुए सीएम कमलनाथ पर शायराना अंदाज में तंज कसा है। उन्होंने कहा कि आज जो मशहूर हो गए वो कभी काबिल न थे, मंजिलें जिनको मिली वो दौड़ में शामिल न थे। पूर्व मंत्री ने कहा कि हमारी सरकार के समय विपक्ष में जब सिंधिया जैसे कुछ समर्पित कांग्रेसी थे। लेकिन जिन्होंने दिखावे के लिए सड़कों पर लड़ाई लड़ी लेकिन वो आज कमलनाथ सरकार में हैं और जो उस समय सड़क पर थे वो आज भी सड़कों पर हैं।    पूर्व मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने सीएम कमलनाथ पर निशाना साधते हुए कहा कि जो आज सत्ता के शीर्ष पर बैठे हैं वह कभी भाजपा के राज में सड़क पर आए ही नहीं। अब भी कमलनाथ खुद कभी सड़क पर नहीं आऐंगे लेकिन सिंधिया को सड़कों पर लाकर ही मानेंगे। सिंधिया समर्थकों द्वारा नई पार्टी बनाने को लेकर नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि नई पार्टी बनाने के लिए हिम्मत और कलेजा चाहिए। अगर सिंधिया जलालत से पार्टी में रह रहे हैं तो उन्हें ऐसा करना चाहिए।

Dakhal News

Dakhal News 19 February 2020


sehore, Kamal Nath, worries about, Muslim vote bank,  Uma Bharti,implementing NPR

सीहोर। दिग्गज भाजपा नेत्री और प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती बुधवार को सीहोर पहुंची। वे यहां प्राचीन चिंतामन गणेश मंदिर में दर्शन करने पहुंची थी। इस दौरान मीडिया से बातचीत करते हुए उमा भारती ने खजुराहो सांसद वीडी शर्मा को भाजपा प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने पर कहा कि वीडी शर्मा कुशल संगठक है और वे अच्छा काम करेंगे।    वहीं कांग्रेस सरकार द्वारा प्रदेश में सीएए और एनपीआर लागू नहीं किए जाने के निर्णय पर उमा भारती ने निशाना साधते हुए कहा कि  सीएम कमलनाथ तो इसे नहीं लागू करने की बात इसलिए कह रहे है, क्योंकि उनको मुस्लिम वोट बैंक की चिंता है। उन्होंने कहा कि सीएए अधिनियम केंद्र सरकार द्वारा लागू किया गया है इसीलिए राज्यों को काम करना ही पड़ेगा। प्रदेश में किसानों की कर्ज माफी और उनकी स्थिति को लेकर भाजपा नेत्री ने कहा कि हमारा प्रदेश संगठन इसको लेकर कार्य कर रहा है। वहीं कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी के अमेरिकी राष्ट्रपति को लेकर दिए बयान को उमा भारती ने दुर्भाग्यपूर्ण बताया है।    

Dakhal News

Dakhal News 19 February 2020


indore,  Uproar over, CAA ,last meeting , Corporation Council

इंदौर। पार्षद अनवर दस्तक निगम परिषद की आखिरी बैठक में बुधवार को जलकार्य समिति के अध्यक्ष बलराम वर्मा पर खूब बरसे। नागरिकता कानून को लेकर हुई तीखी बहस में अनवर दस्तक ने कहा कि जब तक केंद्र सरकार यह काला कानून वापस नहीं ले लेती तब तक विरोध प्रदर्शन जारी रहेंगे। इन प्रदर्शनों में मैं शामिल होऊंगा और इस तरह के प्रदर्शनों का समर्थन करूंगा। अगर आप जैसा कोई सीएए का समर्थन करेगा तो उससे बहस करने के लिए मैं हमेशा तैयार हूं।    विवाद की शुरुआत उस समय हुई जब बलराम वर्मा ने सीएए, एनपीआर और एनआरसी का विरोध कर रहे हैं प्रदर्शनकारियों पर विपरीत टिप्पणी की। उन्होंने कहा कि यह लोग कानून को समझे बिना उसका विरोध कर रहे हैं और सडक़ जाम कर रहे हैं। ऐसे लोगों को बलपूर्वक हटा दिया जाना चाहिए।    इसका जवाब देते हुए पार्षद अनवर दस्तक ने कहा की सीएए संविधान विरोधी कानून है। देश के तमाम दलित संगठन भी इसका विरोध कर रहे हैं। तमाम बुद्धिजीवी और कानून के जानकार सीएए को संविधान विरोधी और एनपीआर, एनआरसी को बदनीयती से भरा कदम निरूपित कर रहे हैं। सांप्रदायिक तत्व समझना ही नहीं चाहते की दलित और मुस्लिम समाज की चिंताएं क्या है। सरकार सुनना नहीं चाहती। ऐसे में प्रदर्शनकारियों के पास यही रास्ता बचता है कि वह गांधीवादी तरीकों से आंदोलन करें। पूरे देश में गांधीवादी तरीके से आंदोलन हो रहे हैं जिसके कारण केंद्र सरकार की नींद उड़ी हुई है। सांप्रदायिक तत्व इस कानून में भी हिंदू-मुस्लिम का एंगल ले आए हैं। हम संविधान को बचाने के लिए किसी भी हद तक जा सकते हैं। गांधीवादी तौर-तरीकों को अपनाते हुए संविधान को बचाने के लिए हम अपनी जान भी दे सकते हैं।   इस बहस के बाद निगम परिषद का माहौल गरमा गया। मुस्लिम और दलित पार्षद सीएए के खिलाफ बोलते रहे। निगम परिषद की आखिरी बैठक नागरिकता कानून की तीखी बहस में तब्दील हो गई।  

Dakhal News

Dakhal News 19 February 2020


 Bhopal ,Indore,Jabalpur ,Municipal Corporations, termination commissioner

भोपाल। मध्यप्रदेश के तीन महानगरों भोपाल, इंदौर और जबलपुर नगर निगम का कार्यकाल मंगलवार को समाप्त होने के बाद यहां के नगरीय निकायों के प्रशासक की जिम्मेदारी संबंधित संभाग के कमिश्नर को सौंप दी गई है। बुधवार से कमिश्नर प्रशासक के तौर पर यहां नगर सरकार के कामकाज का संचालन करेंगे।  दरअसल, राज्य सरकार द्वारा जहां-जहां महापौर और नगर पालिका अध्यक्षों का कार्यकाल पूरा हो रहा है, वहां चुनाव नहीं कराते हुए उनकी जगह प्रशासक को नियुक्त किया  जा रहा है। मध्यप्रदेश में अधिकांश नगर निगम और नगर पालिकाओं के कार्यकाल समाप्त हो चुके हैं। ऐसे में राज्य शासन ने इन नगर निगमों और नगर पालिकाओं की कमान वहां के कमिश्नरों और कलेक्टरों को सौंप दी है। भोपाल महापौर आलोक शर्मा का कार्यकाल मंगलवार को समाप्त होने के बाद संभागीय आयुक्त कल्पना श्रीवास्तव को नगर निगम की कमान सौंप दी गई हैं। बुधवार से उन्होंने अपना कार्यभार भी संभाल लिया है। इससे पहले मंगलवार शाम को महापौर आलोक शर्मा रैली के रूप में नगर निगम मुख्यालय पहुंचे और निगम आयुक्त बी. विजय दत्ता को गाड़ी की चाबियां सौंपी। इसके बाद महापौर ने 74 बंगला स्थित अपना सरकारी आवास भी खाली कर दिया है । 

Dakhal News

Dakhal News 19 February 2020


bhopal,  Congress MLA, replied,e letter written , BJP MLA , Scindia

भोपाल। मध्यप्रदेश में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व केन्द्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया और कमलनाथ सरकार के बीच चल रहे घमासान के बीच भाजपा विधायक रमेश मेंदोला ने गत दिवस पत्र लिखकर उन्होंने हनुमानजी की शरण में आने की सलाह दी थी। अब इस पत्र का जवाब सिंधिया के नजदीकी और ग्वालियर से कांग्रेस विधायक प्रवीण पाठक ने दिया है। उन्होंने मंगलवार को सिंधिया को लिखे गए पत्र के जवाब में रमेश मेंदोला का एक पत्र लिखा है, जिसमें उन्होंने पूर्ववर्ती भाजपा सरकार पर निशाना साधा है। उन्होंने अपने पत्र में लिखा है कि सोशल मीडिया पर आपका पत्र देखा, जो आपने जननायक, जनसेवक और देश की सबसे पुरानी पार्टी के युवा तर्क एवं भरतीय राजनीति की तरुणाई के प्रतीक ज्योतिरादित्य सिंधिया जी को लिखा है। आपने पत्र को पवनसुत हनुमान जी के माध्यम से जो आध्यात्मिक कलेवर देने का असफल प्रयास किया है, इससे आपकी स्वार्थी राजनैतिक महत्वाकांक्षा की दुर्गंध आती है। सिंधिया जी हमारे जैसे लाखों कार्यकर्ताओं की प्रेरणा और ऊर्जा का अक्षय स्रोत होने के साथ-साथ भारत के सांस्कृतिक, राजनैतिक तथा राष्ट्रीय बोध से ओतप्रोत विशाल हृदय के स्वामी हैं। सिंधिया जी, आपके इस धार्मिक-कम पाखंडपूर्ण शर्मनाक राजनैतिक पत्र का जवाब नहीं देंगे, किन्तु मैं विनम्रता से अपनी बात जरूर कहूंगा।उन्होंने आगे लिखा है कि सच तो यह है कि सरकार और सिंधिया जी में कोई टकराव नहीं है, बल्कि जनता के प्रति दोनों में गंभीर चिंता है, लेकिन आप नहीं समझेंगे, क्योंकि 15 वर्षों तक सतत् आपकी सरकार ने न केवल लूटकर प्रदेश को कंगाल करने में ही अपनी ऊर्जा का निवेश किया, बल्कि प्रदेश को लगभग 1.83 लाख करोड़ रुपये का कर्जदार भी बना दिया। यह प्रदेश की जनता से छुपा नहीं है। आपमें इतना साहस कहां कि आप एक चिट्ठी शिवराज जी को भी अवैध रेत खनन, व्यापमं एवं नर्मदा पौधरोपण घोटाले पर भी हनुमान जी से शक्ति लेकर लिख देते।मेंदोला जी, उम्र और राजनीति दोनों में आप मेरे अग्रज हैं, किन्तु उसके बाद भी आपको सद्मार्ग दिखाना मेरा कर्तव्य है। राजनीति और धर्म दोनों अलग विषय हैं। आपने सदैव धर्म की आड़ लेकर राजनीति की है। आपने सिंधिया जी को पत्र लिखकर आमंत्रित किया, उससे मुझे लगा कि आप जाग्रत व्यक्ति हैं। आपसे मेरी अपेक्षा है कि केन्द्रीय नेतृत्व को भी एक पत्र लिखकर उनसे भी अनुरोध कीजिये, जो लगातार प्रदेश के आर्थिक कोष में कटौती करते जा रहे हैं, लेकिन इस पर आप सभी मौन हैं। यदि इतना सामथ्र्य नहीं है तो प्रभु हनुमान जी से शक्ति मांगिये। नि:संदेह वे आपको सामथ्र्य और साहस दोनों प्रदान करेंगे। सिंधिया जी के नाम पर अपने राजनैतिक नम्बर बढ़ाने का आपका यह दांव औसत दर्जे का था। इसकी अपेक्षा कोई नई तरकीब अपनाइये। प्रदेश को उन्नति की राह पर ले जाने के लिए ही आप लोगों के 15 वर्षों के घपलों-घोटालों का समंदर लांघकर ही प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनी है। अंत में अनुज की ओर से एक मशवरा है कि चालीसा की इन पंक्तियों को स्मरण जरूर कीजिये। ‘बुद्धिहीन तनु जानिके, सुमिरो पवन कुमार। बल बुद्धि विद्या देहु मोहिं, हरहु कलेश विकार।।’

Dakhal News

Dakhal News 18 February 2020


bhopal, Kamal Nath, angry , Shivraj Singh,  Scindia

भोपाल। वरिष्ठ कांग्रेस नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया के सरकार के खिलाफ सड़क पर उतरने के बयान के बाद प्रदेश की सियासत में उफान आ गया था। सिंधिया के बयान का जवाब मुख्यमंत्री कमलनाथ ने यह कहकर दिया था कि वो चाहें तो ऐसा कर सकते हैं। प्रदेश के इन दो दिग्गज नेताओं के बयान को सियासी गलियारों में तकरार के रूप में देखा जा रहा था। माना जा रहा था कि दोनों नेताओं के बीच नाराजगी चल रही है, लेकिन मंगलवार को सीएम कमलनाथ ने इन खबरों पर विराम लगाते हुए कहा है कि मेरी किसी से कोई नाराजगी नहीं है।    दरअसल मंगलवार को मुख्यमंत्री कमलनाथ राजधानी के मिंटो हॉल में आल्टरनेट प्रोजेक्ट फायनेंसिंग कार्यशाला का शुभारंभ करने पहुंचे थे। वहां से निकलते समय मीडिया से बातचीत में कहा कि कमलनाथ ने कहा कि किस प्रकार से राज्य सरकार संसाधन उपलब्ध कराएगी, इसको लेकर सेमिनार किया है जिसमें देश भर से लोग शामिल हो रहे हैं। सेमिनार में सभी अपने सुझाव देंगे। इस दौरान मीडिया ने जब सीएम कमलनाथ से सिंधिया के साथ तकरार और नाराजगी पर सवाल पूछा तो उन्होंने कहा कि मैं कभी किसी से नाराज नहीं होता, मैं तो शिवराज सिंह पर भी नाराज नहीं होता तो सिंधिया से कैसे हो सकता हूं। कमलनाथ ने सिंधिया के सड़क पर उतरने वाले बयान को लेकर कहा, मुझे जो कहना था पहले कह दिया है।     मप्र में एनपीआर लागू नहीं करने के सरकार के फैसले पर सीएम कमलनाथ ने कहा कि अभी हम इस पर विचार करेंगे। जब तक इस पर कोई निर्णय नहीं ले लेते हैं तब तक हम इसको लागू नहीं करेंगे। 

Dakhal News

Dakhal News 18 February 2020


bhopal, Kamal Nath government , brand, Nimar chillies

भोपाल। आईफा अवार्ड का आयोजन कर दुनिया में मप्र का नाम रोशन करने की कोशिश में जुटी प्रदेश की कमलनाथ सरकार अब यहां की सुर्ख लाल तीखी मिर्च को भी अंतरराष्ट्रीय पहचान दिलाने की कवायद में जुट गई है। कमलनाथ सरकार निमाड़ की प्रसिद्ध मिर्च की ब्राडिंग करेगी। इस पहल से जहां मालवा-निमाड़ के मिर्च उत्पादक किसानों को फायदा पहुंचा, वहीं मप्र को भी विश्व स्तर पर ख्याति मिलेगी।    मंगलवार को जनसंपर्क मंत्री पीसी शर्मा ने मीडिया से बातचीत में बताया कि निमाड़ के मिर्च की प्रदेश सरकार ब्रांडिंग करेगी। इसके लिए कसरावद में फरवरी के अंतिम सप्ताह या मार्च के पहले सप्ताह में चिली फेस्टिवल (मिर्च महोत्सव) का आयोजन होगा। फेस्टिवल में देशभर के 25 से ज्यादा निवेशक आएंगे। इसके अलावा भोपाल में चल रही आल्टरनेट प्रोजेक्ट फायनेंसिंग कार्यशाला के बारे में जानकारी देते हुए मंत्री शर्मा ने कहा कि केन्द्र द्वारा फंड रोके जाने से विकास की गति ना रुके इसलिए यह एक महत्वपूर्ण कार्यशाला रखी गई है। तंगहाली से जूझ रही कमलनाथ सरकार अब सरकारी जमीनों को बेच कर अपना खजाना भरेगी।    इस संबंध में जनसंपर्क मंत्री पीसी शर्मा ने बताया कि सरकारी जमीनों की ई नीलामी होगी और सरकार की आय बढ़ेगी। उन्होंने बताया कि प्रदेश के विकास के लिए हर शहर का मास्टर प्लान बनाया जाएगा, जिसमें डिजिटल मॉडल में मास्टर प्लान बनेंगे। होशंगाबाद में कृषि वैज्ञानिकों द्वारा गेहूं की नई किस्म तैयार किए जाने पर जनसंपर्क मंत्री ने कहा कि इस बार होशंगाबाद कृषि के क्षेत्र में नया आयाम रचेगा।

Dakhal News

Dakhal News 18 February 2020


bhopal,  Public Relations Minister , all is well in Congress

भोपाल। वरिष्ठ कांग्रेस नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया द्वारा विधानसभा चुनाव में  जनता से किये वचन पूरे नहीं होने पर सरकार के खिलाफ सड़क पर उतरने वाले बयान ने प्रदेश की राजनीति में भूचाल ला दिया है। रविवार को एक बार फिर सिंधिया ने अपने बयान को दोहराया है। पार्टी में मचे अंदरूनी कलह को छुपाने में कांग्रेस के नेता और मंत्री पूरी तरह से जुटे हुए हैं, वही प्रदेश सरकार में जनसम्पर्क मंत्री पीसी शर्मा ने कांग्रेस में सब कुछ ऑल इस वेल बताया है।   सोमवार को मीडिया से बातचीत में जनसंपर्क मंत्री पीसी शर्मा ने सिंधिया के सड़क पर उतरने वाले बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि सिंधिया एक ऐसे नेता है जो हमेशा ही सड़क पर रहते है और हमेशा जनता की लड़ाई लड़ते आए हैं। सीएम कमलनाथ और सिंधिया के बीच मनमुटाव पर मंत्री शर्मा ने कहा कि कांग्रेस में सब कुछ ऑल इस वेल है।   भाजपा के नवनिर्वाचित प्रदेश प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा द्वारा कांग्रेस को लेकर दिए बयान पर जनसम्पर्क मंत्री पीसी शर्मा ने कहा कि मुख्यमंत्री कमलनाथ बहुत अच्छा काम कर रहे हैं। क़र्ज़ माफ़ी से लेकर बिजली बिल हाफ़ तक कई काम हुए हैं। दो विधानसभा सीटों पर होने वाले उपचुनाव में कांग्रेस कि जीत का आश्वासन देते हुए उन्होंने कहा कि वीडी शर्मा के लिए पीसी शर्मा ही काफ़ी है। 

Dakhal News

Dakhal News 17 February 2020


gwalior, Newly appointed, BJP state president , blessings of parents

ग्वालियर। भारतीय जनता पार्टी के नवनियुक्त प्रदेश अध्यक्ष विष्णु दत्त (वीडी) शर्मा सोमवार सुबह अपने माता-पिता का आशीर्वाद लेने के लिए ग्वालियर पहुंचे। इस दौरान पार्टी कार्यकर्ताओं द्वारा उनका जोरदार स्वागत किया गया। इस दौरान उन्होंने मीडिया से बातचीत में कहा है कि भाजपा के सामने कोई चुनौती नहीं है। हमारा संगठन मजबूत और सशक्त है। हम सब टीम स्प्रिट के साथ काम करते हैं। भाजपा के नवनियुक्त प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा का ग्वालियर पहुंचने पर उनके समर्थकों और पार्टी कार्यकर्ताओं ने फूल मालाएं पहनाकर उनका स्वागत किया और ढोल-नगाड़ों के साथ उनके घर पहुंचे, जहां उन्होंने मीडिया से बातचीत में कहा है कि भाजपा आज देश की सबसे बड़ी राजनीतिक पार्टी है। हमारे संगठन को मनीषियों ने खड़ा किया है और उनकी प्रेरणा से ही मैं भी संगठन में अपनी भूमिका निभा रहा हूं। हम स्प्रिट के साथ कार्य करते हैं, इसलिए हमारा संगठन आज मजबूत स्थिति में है। संगठन ने मुझे जो जिम्मेदारी सौंपी है, उसे मैं पूरी ईमानदारी से निभाऊंगा। वीडी शर्मा ने अपने माता-पिता का आशीर्वाद लिया और कुछ देर रुकने के बाद वे शताब्दी एक्सप्रेस से भोपाल के लिए रवाना हुए, जहां शाम को चार बजे पार्टी कार्यालय में वरिष्ठ नेताओं की उपस्थिति में भाजपा प्रदेश अध्यक्ष का पदभार ग्रहण करेंगे।

Dakhal News

Dakhal News 17 February 2020


bhopal, BJP MLA, advised Scindia, Hanuman ji\

भोपाल। कांग्रेस नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया के सड़कों पर उतरने संबंधी बयान को लेकर प्रदेश में राजनीति तेज हो गई है। कांग्रेस सरकार के मंत्रियों के बाद अब एक भाजपा विधायक ने उन्हें हनुमान जी की शरण में जाने की सलाह दे डाली है।   ज्योतिरादित्य सिंधिया के सड़कों पर उतरने संबंधी बयान को लेकर प्रदेश सरकार के वरिष्ठ मंत्री डॉ. गोविंदसिंह ने उनसे कहा था कि सड़कों पर उतरने का काम विपक्ष का है, सिंधिया जी को आपस में बैठकर चर्चा करनी चाहिए। डॉ. गोविंदसिंह कांग्रेस की राजनीति में दिग्विजयसिंह के समर्थक माने जाते हैं। वहीं, सिंधिया समर्थक मंत्री इमरती देवी ने सिंधिया का समर्थन करते हुए कहा था कि यदि सिंधिया जी सड़क पर उतरते हैं, तो पूरी कांग्रेस सड़क पर उतरेगी। वहीं, अब भाजपा के इंदौर से विधायक रमेश मेंदोला ने सिंधिया को हनुमान जी की शरण में जाने की सलाह दे डाली है। इसके लिए विधायक मेंदोला ने बाकायदा सिंधिया को पत्र लिखा है और पितेृश्वर हनुमान धाम के प्राण प्रतिष्ठा समारोह में शामिल होने का आमंत्रण भी दिया है। मेंदोला ने लिखा है कि आपके प्रति कमलनाथ जी का व्यवहार पीड़ादायी है। मेंदोला ने सिंधिया को आमंत्रित करते हुए कहा है कि आप पितेृश्वर हनुमान धाम के प्राण प्रतिष्ठा समारोह में आइये, यहां सुंदरकांड और हनुमान चालीसा का पाठ आपकी पीड़ा हरके आपको पार्टी में हो रहे अन्याय से लड़ने की शक्ति देगा।  

Dakhal News

Dakhal News 17 February 2020


bhopal,  fierce competition, take credit , opening of the flyover

भोपाल। भोपाल के बावड़िया कला क्षेत्र में नवनिर्मित फ्लाईओवर के उद्घाटन के अवसर पर शुक्रवार को जमकर हंगामा हुआ। श्रेय लेने की होड़ में भाजपा और कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने एक-दूसरे के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। आखिरकार व्यवस्था बनाए रखने के लिये पुलिस को हस्तक्षेप करना पड़ा।  दरअसल, बावड़िया कला फ्लाइओवर का निर्माण पूरा होने के बाद शुक्रवार को प्रदेश के सहकारिता मंत्री एवं जिले के प्रभारी मंत्री डॉ. गोविन्द सिंह, जनसम्पर्क मंत्री पीसी शर्मा, भाजपा विधायक कृष्णा गौर और भोपाल महापौर आलोक शर्मा द्वारा उद्घाटन किया गया। इस दौरान ब्रिज के उद्घाटन में भाजपा और कांग्रेस के बीच फ्लाईओवर के निर्माण का श्रेय लेने की होड़ शुरू हो गई। मंत्रियों ने अपने उद्बोधन में फ्लाइओवर के निर्माण का श्रेय कमलनाथ सरकार को दिया, जबकि पूर्ववर्ती भाजपा सरकार के समय इस ब्रिज का काम शुरू हुआ था और 33 करोड़ रुपये की लागत से इसका निर्माण कराया गया। इसी को लेकर उद्घाटन कार्यक्रम में हंगामा शुरू हो गया। भाजपा कार्यकर्ता मंत्रियों के बयान के बाद जमकर हंगामा करने लगे और कांग्रेस के खिलाफ नारेबाजी शुरू कर दी है। कार्यक्रम में मौजूद कांग्रेस कार्यकर्ता भी पीछे नहीं रहे और उन्होंने फ्लाईओवर के निर्माण का श्रेय कमलनाथ सरकार को देते हुए जमकर नारेबाजी की। विवाद बढ़ता देख मौके पर मौजूद पुलिस कर्मियों ने मोर्चा संभाला और कार्यकर्ताओं को शांत कराया।

Dakhal News

Dakhal News 14 February 2020


bhopal, First offending, Shivraj, showing power of money, Congress tendency

भोपाल। छिंदवाड़ा के सौसर में छत्रपति शिवाजी महाराज की प्रतिमा हटाए जाने के मामले में सियासत गर्मा गई है। विवाद बढ़ता देख मुख्यमंत्री कमलनाथ के सांसद पुत्र नकुल नाथ ने अपने खर्च पर भव्य समारोह आयोजित कर प्रतिमा स्थापना की बात कही है। नकुल के इस बयान पर भाजपा हमलावर हो गई है। पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने तंज कसते हुए कहा है कि पहले अपमान करना फिर पैसों की पावर दिखाना ये कांग्रेसी प्रवृति है, प्रकृति है, संस्कृति है।   पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान शनिवार को सौंसर जाऐंगे। जहां वे छत्रपति शिवाजी महाराज की प्रतिमा हटाए जाने के विरोध में धरना प्रदर्शन कर ससम्मान दोबारा स्थापना की मांग करेंगे। शिवराज ने आमजन से इससे शामिल होने की अपील की है। उन्होंने शुक्रवार सुबह एक के बाद कई ट्वीट कर सरकार पर हमला बोला है। शिवराज ने ट्वीट कर लिखा ‘कल मैं दोपहर दो बजे सौंसर पहुँच रहा हूँ। मेरा सभी प्रदेश वासियों से आह्वान है कि आप मेरे साथ चले और हम सब मिल कर कमलनाथ जी को अपनी बुलंद आवाज़ से छत्रपति शिवाजी महाराज का जय घोष कर बता दें कि हमारी दहाड़ सौंसर से भोपाल तक कैसे गूंजती है। नाथ साहब, छत्रपति शिवाजी महाराज के भक्तों में इतनी ताक़त है की वो इस कार्य के लिए अपने दम पर धन जमा कर सकते है।    छिंदवाड़ा सांसद नकुलनाथ द्वारा अपने खर्च पर प्रतिमा स्थापना वाले बयान पर शिवराज ने आक्रामक होते हुए कहा कि ‘अब तो या सरकार अपने खर्चे पर छत्रपति शिवाजी महाराज का पुतला ससम्मान लगाए या फिर हम जन भागीदारी से लगाएँगे। अब देखिए, श्री नकुल नाथ जी कह रहे है की छत्रपति शिवाजी महाराज का पुतला वो अपने पैसों से बनवाएँगे और लगाएँगे! पहले अपमान करना फिर पैसों की पावर दिखाना ये कांग्रेसी प्रवृति है, प्रकृति है, संस्कृति है’।   उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री कमलनाथ के गृहनगर छिंदवाड़ा के सौंसर में प्रशासन ने चौराहे से छत्रपति शिवाजी महाराज की प्रतिमा को दलबल के साथ उठाया था, जिसका विरोध हो रहा था। विरोध बढ़ता देख छिंदवाड़ा सांसद नकुलनाथ ने गुरुवार देर रात ट्वीट कर कहा था कि ‘प्रतिमा मुख्यमंत्री श्री @OfficeOfKNath जी के निर्देशों पर सौंसर के मोहगांव तिराहे पर "छत्रपति शिवाजी महाराज जी" की आदम कद प्रतिमा स्थापित,भव्य समारोह आयोजित कर की जाएगी। जिसका सम्पूर्ण खर्च मेरे द्वारा वहन किया जाएगा। "जय भवानी जय शिवाजी"। 

Dakhal News

Dakhal News 14 February 2020


bhopal, Public relations minister, big announcement ,appointment of four thousand Patwaris

भोपाल।  मध्य प्रदेश की कमलनाथ सरकर इन दिनों एक्शन मोड में है। आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, संविदा शिक्षक और डॉक्टर भर्ती के बाद अब सरकार ने पटवारियों को लेकर बड़ा फैसला लिया है। अब राज्य की हर पंचायत में एक पटवारी नियुक्त होगा। इसके लिए जल्द ही सरकार चार हजार नई भर्तियां निकालेगी। इसकी जानकारी प्रदेश सरकार के जनसंपर्क मंत्री पीसी शर्मा ने शुक्रवार को मीडिया से बातचीत करते हुए दी है। उन्होंने कहा है कि पूरे प्रदेश में 23 हज़ार पंचायत है। फिलहाल पटवारियों के 19 हज़ार पद हैं, लेकिन बाकी चार हज़ार पर पटवारियों की नियुक्ति होगी।   मंत्री शर्मा ने बताया कि प्रदेश में औद्योगिक क्षेत्रों को सस्ती बिजली मुहैया कराई जाएगी। सस्ती दरों पर बिजली सरकार की ओर से दी जाएगी। सबसे पहले इसे औद्योगिक पार्क में लागू किया जाएगा। दिल्ली में मुख्यमंत्री कमलनाथ की इंडस्ट्रीयलिस्टों से मुलाकात पर जनसंपर्क मंत्री ने कहा कि आज सीएम कमलनाथ दिल्ली में इंडस्ट्रीयलिस्टों से राउंड टेबल चर्चा करेंगे। बैठक में प्रदेश में रोजगार के लिए चर्चा होगी। आइफा अवार्ड पर मंत्री शर्मा ने कहा कि आइफा मप्र को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर ख्याति दिलाएगा, जिससे पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा। इस दौरान पुलवामा आतंकी हमले की बरसी पर शहीदों को श्रद्धांजलि देते हुए मंत्री शर्मा ने केन्द्र सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी सीआरपीएफ के परिवारों की ओर ध्यान नहीं दे रहे हैं। 

Dakhal News

Dakhal News 14 February 2020


bhopal,  Rumor came out, Shivraj gave explanation, two deaths, railway station accident

भोपाल। भोपाल रेलवे स्टेशन पर गुरुवार सुबह हुए हादसे में दो लोगों की मौत की अफवाह फैल गई। इसके चलते पूर्व मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने मृतकों के लिये आर्थिक सहायता की मांग भी कर डाली। लेकिन बाद में जब उन्हें वास्तविकता पता चली, तो उन्होंने सोशल मीडिया पर अपना स्पष्टीकरण भी दे दिया।    भोपाल रेलवे स्टेशन के प्लेटफॉर्म दो और तीन पर फुटओवर ब्रिज का शेड गिरने से हुए हादसे में दो लोगों की मौत की खबर फैल गई और यह खबर मीडिया में भी चल गई। इसे लेकर पूर्व मुख्यमंत्री शिवराजसिंह ने तत्परता दिखाते हुए मौतों पर दुख जताने के साथ-साथ मृतकों के लिये आर्थिक सहायता की मांग भी कर डाली। लेकिन कुछ ही देर में उन्हें यह अहसास हो गया कि मौतों की खबर अफवाह थी। इसके बाद उन्होंने ट्विटर पर अपना स्पष्टीकरण दे दिया। उन्होंने लिखा कि मुझे समाचार चैनलों के माध्यम से प्रारंभिक जानकारी मिली थी कि हादसे में दो लोगों की मौत हो गई है, लेकिन यह राहत की बात है कि इस हादसे में कोई हताहत नहीं हुआ है। मैं घायलों के शीघ्र स्वास्थ्य लाभ की कामना करता हूं। वहीं, मंडल जनसंपर्क अधिकारी आईए सिद्दीकी ने भी हादसे में किसी भी यात्री की मौत से इंकार किया है और कहा है कि सिर्फ 7 लोग घायल हुए हैं, जिनका उपचार किया जा रहा है।   

Dakhal News

Dakhal News 13 February 2020


bhopal,  Public Relations Minister, PC Sharma, big statement, inflation

भोपाल | जनवरी महीने में खुदरा महंगाई दर बढ़ने पर केंद्र सरकार विपक्ष के निशाने पर आ गई हैं| अब मध्य प्रदेश के जनसम्पर्क मंत्री पीसी शर्मा ने केंद्र सरकार की मंहगाई और बेरोजगारी नीति पर सवाल उठाते हुए उसे हर स्तर पर फेल बताया है|    जसंपर्क मंत्री पीसी शर्मा ने गुरुवार को महंगाई पर बड़ा बयान दिया है| उन्होंने कहा है कि महंगाई की दर 7.5% हो चुकी है और जब इस तरह की महंगाई आती है तो बेरोजगारी बढ़ती है| औद्योगिक उत्पादन में प्वाइंट फीसदी की गिरावट आ गई है और बढ़ती बेरोजगारी के यही कारण है| मंत्री पीसी शर्मा ने मोदी सरकार की महंगाई और बेरोजगारी नीति को बिल्कुल फेल बताया है|    इसके अलावा मंत्री शर्मा ने जानकारी देते हुए बताया कि सरकार ने संविदा कर्मचारियों को मानदेय में  8% का लाभ देने की योजना बनाई है। अवैध कॉलोनियों को वैध करने का भी प्रस्ताव आया है अगर 10 फीसदी भी मकान बने मिलेंगे तो उन कॉलोनियों को वैध किया जाएगा। अतिथि विद्वानों के लिए सरकार ने बड़ा फैसला लिया हैं, जिसके तहत अतिथि विद्वानों की हर सप्ताह काउंसलिंग कराई जाएगी| जरुरत पड़ी तो 500 नए पदों का श्रृजन किया जाएगा।    केन्द्रीय रेलवे मंत्री को लिखेंगे पत्र गुरुवार को भोपाल रेलवे स्टेशन में हुए हादसे पर मंत्री पीसी शर्मा ने जांच की माग उठाई है। मंत्री शर्मा ने हादसे पर खेद जताते हुए घायलों के प्रति संवेदना व्यक्त की है । साथ ही उन्होंने कहा है कि वे इस मामले में केन्द्रीय रेल मंत्री को पत्र लिखेंगे ।   

Dakhal News

Dakhal News 13 February 2020


bhopal,  Chief Minister, Kamal Nath, expresses sorrow ,over Bhopal railway station accident

भोपाल| राजधानी के पुराने भोपाल रेलवे स्टेशन पर गुरुवार को फुटओवर ब्रिज (एफओबी) के स्लोप का एक हिस्सा ढह गया। हादसे में 9 लोग घायल हो गए, जिसमें 3 की हालत गंभीर है। 4 को रेलवे और 5 को हमीदिया अस्पताल में भर्ती कराया गया है। भोपाल रेलवे स्टेशन पर हुए हादसे पर मुख्यमंत्री कमलनाथ ने दुःख जताते हुए घायलों के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना की है| उन्होंने हादसे की जानकारी मिलते ही तुरंत इस घटना के घायलों की हर संभव मदद व समुचित इलाज के प्रशासन को निर्देश दिये हैं।   मुख्यमंत्री कमलनाथ ने ट्वीट कर घायलों के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना करते हुए प्रशासन को घायलों की हरसंभव मदद के निर्देश दिए हैं| सीएम कमलनाथ ने ट्वीट कर लिखा "भोपाल रेलवे स्टेशन पर एक फुटओवर ब्रिज के एक हिस्से के गिरने से हुआ हादसा बेहद दुःखद। इस हादसे में  कुछ लोगों के घायल होने की जानकारी मिली है। घायलों के शीघ्र स्वस्थ होने  की ईश्वर से कामना।प्रशासन को घायलो के समुचित इलाज व हरसंभव मदद के निर्देश।   पीडब्लूडी  मंत्री सज्जन सिंह वर्मा ने भी हादसे को दुखद बताते हुए घायलों के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना की है| मंत्री सज्जन सिंह वर्मा ने अपने ट्वीट में लिखा "भोपाल रेलवे स्टेशन पर आज सुबह हुए हादसे में कई लोगों के घायल होने की सूचना मिली। मैं ईश्वर से सभी के जल्द ही स्वस्थ होने की कामना करता हूं। घायलों को उपचार के लिए प्रदेश सरकार की ओर से पूरी सहायता दी जाएगी।

Dakhal News

Dakhal News 13 February 2020


bhopal, Government, takes a big decision,stop extravagance , programs in five star hotels

भोपाल। मध्य प्रदेश सरकार ने फिजूलखर्ची रोकने के लिए बड़ा फैसला लिया है। बजट से पहले सरकार ने फिजूलखर्ची पर रोक लगा दी है। सरकार के जारी निर्देशों के मुताबिक शासकीय स्तर के सेमीनार फाइव स्टार होटलों में आयोजित नहीं कराए जाएंगे। इसके अलावा नए वाहन और उपकरणों की खरीदी पर भी सरकार ने पूरी तरह रोक लगा दी है।   वित्त विभाग ने बजट को देखते हुए फरवरी और मार्च में बजट प्रबंधन के लिए कड़े कदम उठाते हुए खर्चो की अधिकतम सीमा भी तय कर दी है। दरअसल मार्च माह में प्रदेश सरकार अपना बजट पेश करेगी। लेकिन उससे पहले सरकार ने खर्च कम करने के लिए बड़े पांच सितारा होटलों में आयोजन करने और नई गाडिय़ों की खरीदी पर रोक लगा दी गई है। सरकार के द्वारा जारी किए गए निर्देशों के मुताबिक 25 करोड़ से अधिक का कोई भी भुगतान वित्त विभाग की अनुमति के बिना नहीं होगा। हालांकि पीडब्ल्यूडी, स्वास्थ्य, पंचायत एवं ग्रामीण विकास, नगरीय विकास जैसे 8 विभागों को खर्च के लिए राशि में छूट दी गई है। 

Dakhal News

Dakhal News 12 February 2020


indore,Kailash Vijayvargiya, Kejriwal, Hanuman Chalisa, schools and madrasas

इंदौर। दिल्ली विधानसभा चुनाव के परिणाम सामने आने के बाद अब राजनीतिक गलियारों में सरगर्मी तेज हो गई है। भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने अरविंद केजरीवाल के "हनुमानजी ने दिल्ली पर कृपा बरसाई है", वाले बयान को लेकर ट्वीट किया है। जिसमें उन्होंने अरविंद केजरीवाल को बधाई देते हुए दिल्ली के स्कूलों और मदरसों में हनुमान चालीसा का पाठ कराए जाने की बात कही है।    दरअसल मंगलवार को परिणाम आने के बाद केजरीवाल ने कहा- ‘दिल्ली वालो! गजब कर दिया आपने, आई लव यू। आज मंगलवार को हनुमानजी ने दिल्ली पर कृपा बरसाई है।’ केजरीवाल के इसी बयान पर कैलाश विजयवर्गीय ने बुधवार सुबह ट्वीट किया है। अपने ट्वीट में विजयवर्गीय ने लिखा ‘@ArvindKejriwal  जी को जीत की बधाई! निश्चित ही जो हनुमानजी की शरण में आता है उसे आशीर्वाद मिलता है। अब समय आ गया है कि हनुमान चालीसा का पाठ दिल्ली के सभी विद्यालयों, मदरसो सहित सभी शैक्षणिक संस्थानों में भी जरूरी हो। बजरंगबली की कृपा से अब 'दिल्लीवासी' बच्चे क्यों वंचित रहे’।    कांग्रेस ने बोला हमला कैलाश विजयवर्गीय के ट्वीट पर कांग्रेस ने पलटवार किया है। कांग्रेस मीडिया समन्वयक नरेन्द्र सलूजा ने विजयवर्गीय के ट्वीट के जवाब में कहा है कि ‘यह सही है कि जो हनुमानजी की शरण में आता है उसे आशीर्वाद ज़रूर मिलता है। कैलाश विजयवर्गीय जी भी गये थे चुनाव के दौरान लेकिन शायद वे पूजा -अर्चना के दौरान जूते उतारना भूल गये थे, इसलिये उनकी पार्टी को लगता है चुनाव में आशीर्वाद नहीं मिल पाया ? भाजपा को अब तो इस करारी हार से सबक़ लेना चाहिये और समाज को बाटने वाले मुद्दों से दूरी बनाना चाहिये। अभी भी विद्यालय- मदरसों पर ही अटके है ? चुनाव में भारत- पाकिस्तान करते रहे, परिणाम सबने देख लिया।

Dakhal News

Dakhal News 12 February 2020


bhopal, Kamal Nath, not worried, about guest scholars ,Gopal Bhargava

भोपाल। बीते सोमवार को उमरिया जिले में पदस्थ एक अतिथि विद्वान संजय कुमार ने जो राजधानी भोपाल के शाहजहानी पार्क में चलर रहे अतिथि के आंदोलन में शामिल थे ने आर्थिक तंगी के चलते  फांसी लगाकर सोमवार की रात आत्महत्या कर ली थी।  मृतक संजय कुमार की पत्नी लालसा देवी के पास पति के शव को अपने गृह जिला बलिया तक ले जाने के लिए पैसे नहीं थे। अतिथि विद्वानों एवं स्थानीय प्रशासन के सहयोग से संजय कुमार का शव उनके गृह जिले बलिया भेजा गया था । इस घटना से पहले एक और अतिथि विद्वान राजकुमार अहिरवार के 2 साल के मासूम बच्चे की इलाज के अभाव में मौत हो गई थी। अब नेता प्रतिपक्ष गोपाल  भार्गव ने इस घटना का  जिम्मेदार कमलनाथ सरकार को बताया है।    उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार के मुखिया कमलनाथ निष्ठुर हो गए हैं। उन्हें अब मरते हुए अतिथि विद्वानों की चीखें भी नही सुनाई दे रही। उन्होंने कहा कि संजय अकेले नही है जो अवसाद से गुजरे संजय जैसी परिस्थितियों से आज हजारों अतिथि विद्वान गुजर रहे है।  मुख्यमंत्री जी आप कितनी ओर मौत होने का इंतज़ार कर रहे है। क्या सरकार के लिए इनकी जान की भी कोई कीमत नही? उन्होंने कहा कि इस सरकार को एक एक मौत का हिसाब विधानसभा के बजट सत्र में देना होगा।    नेता प्रतिपक्ष ने कहा है कि इस बार उमरिया जिले के चंदिया स्थित शासकीय महाविद्यालय के क्रीड़ा अधिकारी संजय कुमार को आर्थिक तंगी के कारण आत्महत्या करनी पड़ी। संजय कुमार अतिथि विद्वान के रूप में अपनी सेवाएं दे रहे थे। अतिथि विद्वान लगभग दो माह से ज्यादा समय से अपनी मांगों को लेकर धरना-प्रदर्शन कर रहे हैं, लेकिन सरकार ने इंसानियत की पराकाष्ठा को ही पार कर दिया है। उन्होंने कहा कि सरकार की बेरुखी ने नाबालिगों के माथे से पिता का साया छीन लिया।   नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव ने कहा है कि कई अतिथि विद्वान आर्थिक तंगी के कारण  मौत को गले लगा रहे हैं  इन्हे भारी परेशानियों से गुजरना पड़ रहा है। कई अतिथि विद्वानों को अपने बच्चों के साथ धरना-प्रदर्शन करना पड़ रहा है, लेकिन प्रदेश की सरकार और उनके मुखिया कमलनाथ सब कुछ देखकर भी कुछ नहीं कर पा रहे हैं। आखिरकार सरकार इन अतिथि विद्वानों की मांगों को क्यों नहीं सुन रही है । और क्यों इनको आश्वसन नहीं दे पा रही है।   नेता प्रतिपक्ष ने आरोप लगाते हुए कहा कि संवेदनहीन कमलनाथ सरकार की गलत नीतियों के कारण आज अतिथि विद्वान पाई-पाई के लिए मोहताज होकर आत्महत्या को मजबूर हो रहे हैं। नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि अतिथि शिक्षकों कि न्याय की लड़ाई में भारतीय जनता पार्टी साथ खड़ी है। पूरी मुखरता के साथ विधानसभा में हम अतिथि विद्वानों की आवाज उठाएंगे और इन्हें न्याय दिलाएंगे। उन्होंने कहा कि विधानसभा बजट सत्र में सरकार को इन अतिथि शिक्षकों की मौत का हिसाब देना होगा।

Dakhal News

Dakhal News 12 February 2020


bhopal, Society and government,work together , water conservation

भोपाल । मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा कि पानी की उपलब्धता समाज और सरकार के सामने आने वाले समय में सबसे बड़ी चुनौती है। सब मिलकर ही इसका मुकाबला कर पाएंगे। उन्होंने कहा कि मेरा स्वप्न है कि हर व्यक्ति को शुद्ध जल उसके घर पर मिले यह स्वप्न सबका हो तो जरूर इसमें सफल होंगे। उक्‍त बातें मुख्‍यमंत्री नाथ ने मंगलवार को जलाधिकार कानून को लेकर मध्यप्रदेश सरकार और जल-जन जोड़ो आंदोलन द्वारा संयुक्त रूप से आयोजित राष्ट्रीय जल सम्मेलन को संबोधित करते हुए कही। इस अधिवेशन में 25 राज्य के जल और पर्यावरण से जुड़े समाजसेवी, विशेषज्ञ भाग ले रहे हैं। अधिवेशन में मध्यप्रदेश सरकार द्वारा प्रस्तावित राइट टू वाटर विषय पर विमर्श होगा।   राजधानी भोपाल स्थित मिंटो हॉल में आयोजित सम्‍मेलन को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारी सोच के अभाव, लापरवाही के कारण जल संकट बढ़ रहा है जो आगे चलकर और भी गंभीर होने वाला है। उन्होंने कहा कि हमारे पर्यावरण विद और जल संरक्षण के क्षेत्र में समर्पित भाव से काम करने वाले स्वयंसेवियों को इसमें महत्वपूर्ण भूमिका निभाना होगी। उन्होंने कहा कि हम लोगों ने मिलकर इसकी आज से चिंता नहीं की तो आने वाली पीढ़ी हमें माफ नहीं करेगी। नाथ ने कहा कि राइट टू वाटर कानून लाने का हमारा मकसद है कि जिन लोगों में पानी को बचाने के प्रति जागरूकता है वे सरकार के साथ इसके संरक्षण के लिए सहभागी बनें।    लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी मंत्री सुखदेव पांसे ने कहा कि मुख्यमंत्री कमलनाथ के नेतृत्व में यह सरकार पर्याप्त पानी, पहुंच में पानी और पीने योग्य पानी का कानूनी अधिकार देने जा रही है। ऐसा अधिकार देने वाला मध्यप्रदेश देश का पहला राज्य होगा। पांसे ने कहा कि वर्षा की एक-एक बूंद को सहेजने से लेकर उसे घर तक पहुंचाने के प्रत्येक पहलू का समावेश जल अधिकार कानून में रहेगा। पानी की रिसाक्लिंग, वाटर रिचार्जिंग उसका वितरण एवं उपयोग भी इस कानून के दायरे में आयेगा।    जल पुरुष मैग्सेसे पुरस्कार प्राप्त प्रो. राजेन्द्र सिंह ने मुख्यमंत्री को बधाई दी कि उन्होंने जल अधिकार कानून बनाने की पहल कर पूरे देश को यह सोचने पर मजबूर किया है कि वे जल संरक्षण और इसके बेहतर उपयोग के लिए काम करें। उन्‍होंने कहा कि सभी राज्य सरकारों को मध्यप्रदेश की इस पहल का अनुसरण करना चाहिए। इस दौरान मुख्यमंत्री नाथ का राष्ट्रीय जल अधिवेशन में तरुण भारत संघ की ओर से राइट टू हेल्थ कानून बनाने की पहल के लिए अभिनंदन पत्र भेंट किया।   विषय-विशेषज्ञों ने दिये महत्वपूर्ण सुझाव इस मौके पर कानूनविद् अनुपम सराफ, तेलंगाना जल बोर्ड के अध्यक्ष प्रकाश राव, झारखण्ड के पूर्व मंत्री सरयू राय, 2030 वाटर रिसोर्स ग्रुप (वर्ल्ड बैंक) के अनिल सिन्हा (नीरी), नागपुर के डॉ. कृष्णा खैरवार, जल गुरु महेन्द्र मोदी, पर्यावरणविद् सुइंदिरा खुराना, सुप्रतिभा शिंदे तथा डॉ. स्नेहिल दोंडे (मुम्बई), कर्नाटक के पूर्व मंत्री वी.आर. पाटिल के अलावा विभिन्न राज्यों से आये अनेक जल और पर्यावरण से जुड़े समाज-सेवी ओर विषय-विशेषज्ञों ने अपने विचार रखकर अपने अनुभव साझा किये। यूनिसेफ इण्डिया प्रमुख माइकल जूमा भी सम्मेलन में उपस्थित रहे।   सभी जल विशेषज्ञों एवं वक्ताओं ने जल के अधिकार और प्रदेश की नदियों को पुनर्जीवित किये जाने के संबंध में अनेक पहलुओं पर अपनी बात रखी और महत्वपूर्ण सुझाव भी दिये। विषय-विशेषज्ञों द्वारा प्रदत्त सुझावों को प्रदेश में तैयार किये जा रहे जल के अधिकार अधिनियम में समाहित किया जायेगा। सम्मेलन में पानी के मुद्दे पर महिलाओं की भागीदारी, जन-सामान्य को अधिकार के साथ-साथ जिम्मेदारियों से अवगत कराने के लिये जन-जागरूकता पर जोर दिया गया। विषय-विशेषज्ञों ने सुझाव दिया कि पानी उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिये स्थानीय स्तर पर जल को सहेजा जाना चाहिये। पानी की उपलब्धता के मान से लोगों को अपनी दिनचर्या एवं क्रिया-कलापों में बदलाव लाना होगा।   मंत्री पांसे ने सम्मेलन में 25 राज्यों से आये प्रतिनिधियों को स्मृति-चिन्ह भेंटकर सम्मानित किया। उन्होंने आशा जताई कि जल अधिकार कानून के विभिन्न पहलुओं पर सम्मेलन में हुई चर्चा और मंथन से बेहतर परिणाम निकलेंगे। इस मौके पर मुख्य सचिव एस.आर. मोहन्ती, अपर मुख्य सचिव पंचायत एवं ग्रामीण विकास मनोज श्रीवास्तव, प्रमुख सचिव लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी संजय शुक्ला एवं देश भर से आए जल एवं पर्यावरण विशेषज्ञ उपस्थित रहे।

Dakhal News

Dakhal News 11 February 2020


murena, Administration started, preparations,e bye-election , Jaura Assembly

मुरैना। मुरैना जिलाधीश एवं जिला निर्वाचन अधिकारी प्रियंका दास ने समस्त मान्यता प्राप्त राजनैतिक दलों को पत्र के माध्यम से सूचित किया है कि भारत निर्वाचन आयोग द्वारा शीघ्र ही जौरा विधानसभा के उप चुनाव की घोषणा संभावित है। जिसमें उप चुनाव निर्वाचन की तैयारियों के लिये ई.व्ही.एम. एवं व्ही.व्ही.पैट की एफ.एल.सी. का कार्य 17 फरवरी से शासकीय पॉलीटेक्निक कॉलेज मुरैना में प्रात: 10 बजे से किया जाना है।    जिला निर्वाचन अधिकारी श्रीमती प्रियंका दास ने सभी मान्यता प्राप्त राजनैतिक दलों के प्रतिनिधियों को नवीन वेयर हाउस एम.एस. रोड़ मुरैना से ई.व्ही.एम. मशीनों को 16 फरवरी को प्रात: 10 बजे से ले जाते समय नवीन वेयर हाउस पर उपस्थित रहने एवं 17 फरवरी को प्रात: 10 बजे मशीनों की एफ.एल.सी. कार्य प्रारंभ करते समय उपस्थित रहने की अपेक्षा की है।    उनके निधन के बाद कांग्रेस एक बार फिर 114 सीटों पर आ गई है। झाबुआ उपचुनाव में जीत के बाद कांग्रेस के पास सदन में 115 विधायकों और एक निर्दलीय विधायक के मंत्री होने से 116 की मजबूत स्थिति में आ गई थी। इसके अलावा कांग्रेस को चार निर्दलीय, दो बसपा और एक सपा विधायक का समर्थन है। वहीं भाजपा के पास फिलहाल सदन में 108 विधायकों का संख्या बल है।  

Dakhal News

Dakhal News 11 February 2020


bhopal, Centers ,will be opened , Madhya Pradesh, personal security

भोपाल । युवाओं को निजी सुरक्षा की विश्‍वस्तरीय ट्रेनिंग देने के लिए प्रदेश में सेन्टर ऑफ एक्सीलेंस संस्थान स्थापित किए जायेंगे। यह निर्णय मंगलवार को मुख्यमंत्री कमलनाथ की मंत्रालय में गृह एवं पुलिस विभाग के उच्च अधिकारियों एवं निजी सुरक्षा के सर्वोच्च संगठन सेंट्रल एसोसिएशन ऑफ प्राइवेट सिक्योरिटी इंडस्ट्री के साथ हुई बैठक में लिया गया।   बैठक में मुख्यमंत्री नाथ ने कहा कि आज देश और दुनिया में निजी सुरक्षा की मांग बढ़ी है। यह आज रोजगार के सेक्टर में सबसे प्रमुख केन्द्रों में से एक है। इसमें रोजगार की व्यापक संभावनाएं है। उन्होंने कहा कि अगर हमारे प्रदेश के युवाओं को निजी सुरक्षा से जुड़ी विभिन्न विधाओं का उच्च स्तरीय प्रशिक्षण दिया जाए, तो हम उन्हें बेहतर रोजगार उपलब्ध करवा सकेंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि देश के बेहतर सुरक्षा प्रशिक्षण संस्थान और सुरक्षा एजेंसियों का अध्ययन कर प्रदेश में ऐसा ट्रेनिंग सेंटर स्थापित किया जाए, जिसमें हमारे युवाओं को विश्‍व-स्तरीय प्रशिक्षण मिल सके। उन्होंने इसके लिए शीघ्र ही एक कार्य-योजना बनाने के निर्देश दिये। कमलनाथ ने बताया कि वर्तमान में देश में 22 हजार सुरक्षा एजेंसियां हैं, जिनमें लगभग 80 हजार लोग नौकरी करते हैं।   इस अवसर पर मुख्य सचिव एस.आर. मोहन्ती, प्रमुख सचिव गृह एस.एन. मिश्रा, प्रमुख सचिव कौशल विकास दीपाली रस्तोगी, अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक प्रज्ञा ऋचा श्रीवास्तव, अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक निजी सुरक्षा एजेंसी मनीष शंकर शर्मा, सेंट्रल एसोसिएशन ऑफ प्राइवेट सिक्योरिटी इंडस्ट्री के अध्यक्ष विक्रम सिंह, जी4 सुरक्षा एजेंसी के एमडी राजीव शर्मा, चेकमेट के एमडी विक्रम मर्हुकर, राज शेखर एवं मीशा डांगे उपस्थित रहे।  

Dakhal News

Dakhal News 11 February 2020


bhopal,  Kamal Nath government ,transfers ,over 50 Indian Police Service officers

भोपाल।  मध्‍यप्रदेश में सत्‍ता और शासन के बीच कई दिनों से खटास महसूस की जा रही थी, इसकी गूंज सोशल मीडिया पर भी जोरशोर से सुनाई दे रही थी । अब इसे योग कहा जाए या संयोग राज्‍य की कमलनाथ सरकार ने आज भारतीय पुलिस सेवा (आईपीएस) के 50 से अधिक अधिकारियों के स्‍थानान्‍तरण आदेश जारी किए हैं। इनमें पुलिस मुख्यालय के अधिकारियों से साथ ही प्रदेश के 16 जिलों के पुलिस अधीक्षक भी शामिल हैं।    इस संबंध में गृह विभाग द्वारा सोमवार जारी की गई  स्‍थानान्‍तरण सूची के अनुसार अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (एडीजी), प्रशासन, पुलिस मुख्यालय भोपाल कैलाश मकवाना को एडीजी, नारकोटिक्स, पुलिस मुख्यालय, भोपाल पदस्‍थ किया गया है। एडीजी, नारकोटिक्स अजय कुमार शर्मा को एडीजी, प्रशासन, पुलिस मुख्यालय, भोपाल एडीजी, एससीआरबी, भोपाल जी पी सिंह को एडीजी, एंटी नक्सल ऑपरेशन, पुलिस मुख्यालय भोपाल बनाया गया है। पुलिस मुख्यालय भोपाल में महानिरीक्षक (आईजी), मकरंद देउस्कर को आईजी, अपराध अनुसंधान विभाग बनाया गया है।  इसी तरह से आईजी अपराध अनुसंधान विभाग डी श्रीनिवास वर्मा को नई जिम्‍मेदारी आईजी (कानून एवं व्यवस्था), पुलिस मुख्यालय भोपाल की दी गई है।    पुलिस मुख्यालय भोपाल के एक अन्य आईजी अविनाश शर्मा को पुलिस मुख्यालय भोपाल में आईजी एससीआरबी पदस्थ किया गया है। पुलिस मुख्यालय भोपाल में आईजी मनोज शर्मा को आईजी (गौपनीय) की जिम्मेदारी सौंपी गयी है। उप महानिरीक्षक (डीआईजी) प्रबंध, पुलिस मुख्यालय भोपाल हरिनारायण चारी मिश्रा को डीआईजी, खरगोन पदस्थ किया गया है। एडीजी, होमगार्ड, जबलपुर राजेश चावला को एडीजी, एससीआरबी, भोपाल के रूप में स्थानांतरित किया गया है। एडीजीपी, जेएनपीए, सागर जी जनार्दन को एडीजीपी, शहडोल रेंज के रूप में भेजा गया है।    आईजी पुलिस मुख्यालय भोपाल एस पी सिंह को इंदौर में विशेष सशस्त्र बल (विसबल) के आईजी के रूप में स्थानांतरित किया गया है।शहडोल पुलिस अधीक्षक (एसपी) अनिल सिंह कुशवाह को नई जिम्‍मेदारी डीआईजी रीवा रेंज की सौंपी गयी है। डीआईजी खरगोन एम एस वर्मा को डीआईजी, जबलपुर रेंज भेजा गया है। डीआईजी सागर दीपक वर्मा को डीआईजी, एसएएफ (सेंट्रल रेंज) भोपाल की जिम्मेदारी दी गयी है। डीआईजी छतरपुर अनिल माहेश्वरी को डीआईजी, पुलिस मुख्यालय भोपाल बनाया गया है। डीआईजी बालाघाट आर एस डहेरिया को डीआईजी सागर बनाया गया है।  छतरपुर एसपी तिलक सिंह को डीआईजी, पुलिस मुख्यालय भोपाल बनाया गया है। उज्जैन में विसबल के सेनानी अनुराग शर्मा को डीआईजी, महिला अपराध, इंदौर की जिम्मेदारी दी गयी है। जेएनपीए सागर के उप निदेशक विवेक राज सिंह को डीआईजी छतरपुर बनाया गया है। पुलिस मुख्यालय के एक सहायक महानिरीक्षक कुमार सौरभ को छतरपुर एसपी पदस्थ किया गया है। पुलिस मुख्यालय भोपाल में हॉक फोर्स के सेनानी तरुण नायक को गुना एसपी बनाया गया है। भिंड एसपी रुडोल्फ अल्वारोज को एआईजी पुलिस मुख्यालय के रूप में वापस बुलाया गया है।    डीआईजी, इंदौर ग्रामीण रेंज, संजय तिवारी को डीआईजी, पुलिस मुख्यालय भोपाल बनाया गया है। डीआईजी छिंदवाड़ा सुशांत सक्सेना को डीआईजी इंदौर ग्रामीण रेंज के रूप में स्थानांतरित किया गया है। मंडला में विसबल की 35वीं वाहिनी के सेनानी आर के हिंगणकर को डीआईजी जेएनपीए सागर और डीआईजी, अअवि, पुलिस मुख्यालय भोपाल अरविंद सक्सेना को डीआईजी, आरएपीटीसी इंदौर के रूप में स्थानांतरित किया गया है। एसपी बुरहानपुर अजय सिंह को एसपी रेल, इंदौर और एसपी श्योपुर नागेंद्र सिंह को एसपी भिंड पदस्थ किया गया है। एआईजी,पुलिस मुख्यालय भोपाल साईकृष्ण एस धोटा को एसपी (दक्षिण) भोपाल के रूप में स्थानांतरित किया गया है।    एसपी सिंगरौली अभिजीत रंजन को एआईजी पुलिस मुख्यालय भोपाल, एसपी नीमच राकेश कुमार सगर को एसपी रेल भोपाल और एसपी हरदा भगवत सिंह विरदे को एसपी बुरहानपुर बनाया गया है। एसपी छिंदवाड़ा मनोज कुमार राय को एसपी नीमच भेजा गया है। ग्वालियर में ईओडब्ल्यू के एसपी रघुवंश भदौरिया को एसपी अशोकनगर के रूप में भेजा गया है।  जबलपुर में सहायक पुलिस महानिरीक्षक (एआईजी) महिला अपराध हिमानी खन्ना को डीआईजी के रूप में पुलिस मुख्यालय भोपाल बुला लिया गया है। पुलिस अधीक्षक (मुख्यालय) भोपाल मिथिलेश शुक्ला को डीआईजी छिंदवाड़ा पद की जिम्मेदारी दी गयी है। होशंगाबाद एसपी एम एल छारी को डीआईजी पुलिस मुख्यालय भोपाल बनाया गया है।    एसपी, पीटीसी, इंदौर तुषारकांत विद्यार्थी को एसपी के रूप में सिंगरौली जिले में भेजा गया है। ग्वालियर में विसबल की वाहिनी के सेनानी सत्येंद्र कुमार शुक्ला को एसपी शहडोल बनाया गया है। एसपी रेल भोपाल मनीष कुमार अग्रवाल को एसपी हरदा और ग्वालियर में विसबल की वाहिनी के सेनानी धर्मेंद्र सिंह भदौरिया को एसपी बैतूल पदस्थ किया गया है। एआईजी, पुलिस मुख्यालय (चयन) भोपाल हेमंत चौहान को एसपी दमोह बनाया गया है। एसपी, पीटीएस, रीवा मनोज कुमार सिंह को को एसपी आगरमालवा की जिम्मेदारी सौंपी गयी है। एसपी गुना राहुल कुमार लोधा को एआईजी पुलिस मुख्यालय भोपाल के रूप में वापस बुलाया गया है।   भोपाल में सातवीं वाहिनी के सेनानी संतोष सिंह गौर को होशंगाबाद एसपी के रूप में भेजा गया है। एसपी (पश्चिम) इंदौर अवधेश कुमार गोस्वामी को एसपी एपीटीसी इंदौर की जिम्मेदारी दी गयी है। रतलाम जिले के जावरा में विसबल की वाहिनी के सेनानी के रूप में कार्यरत महेश चंद्र जैन को एसपी (पश्चिम) इंदौर बनाया गया है। एसपी आगरमालवा सुश्री सविता सोहाने को एआईजी पुलिस मुख्यालय भोपाल पदस्थ किया गया है।   बैतूल एसपी कार्तिकेयन के को शिवपुरी में विसबल की वाहिनी का सेनानी बनाया गया है। शिवपुरी में अभी तक यह जिम्मेदारी निभा रहे विवेक अग्रवाल को एसपी छिंदवाड़ा की जिम्मेदारी सौंपी गयी है। एसपी दमोह विवेक सिंह को एआईजी पुलिस मुख्यालय भोपाल और भोपाल एसपी (दक्षिण) संपत उपाध्याय को एसपी श्योपुर के रूप में स्थानांतरित किया गया है। 

Dakhal News

Dakhal News 10 February 2020


gwalior,  In-charge minister, Umang Singhar, hold a meeting , District Planning Committee

ग्वालियर। जिला योजना समिति ग्वालियर की बैठक वन मंत्री एवं जिले के प्रभारी मंत्री उमंग सिंघार की अध्यक्षता में 15 फरवरी को दोपहर 12 बजे न्यू कलेक्ट्रेट कार्यालय सिटी सेंटर ओहदपुर ग्वालियर के सभागार में आयोजित की गई है।    बैठक को लेकर जनसंपर्क अधिकारी जीएस मौर्य ग्‍वालियर की ओर से बताया गया कि बैठक में गत जिला योजना समिति की आयोजित बैठक की कार्यवाही के पालन प्रतिवेदन की समीक्षा की जायेगी। इसके अलावा बैठक में नगर निगम, ग्वालियर विकास प्राधिकरण, वन विभाग, पीआईयू, प्रदूषण कंट्रोल-प्रदूषण निवारण मण्डल आदि विभागों की समीक्षा की जायेगी।  

Dakhal News

Dakhal News 10 February 2020


bhopal,  Panchayat and Rural Development Minister, Kamleshwar Patel, questioned the CAA

भोपाल। नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) को लेकर जारी राजनीतिक घमासान के बीच अब कमलनाथ सरकार में पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री कमलेश्वर पटेल ने भी इस नये कानून को लागू करने पर सवाल उठाया है। उनका कहना है कि हमारे देश में कोई ऐसा वतावरण नही था,जिसके लिए इस कानून की आवश्यकता हो। यहां सभी समाज संप्रदाय के लोग मिलकर रह रहे हैं।   मंत्री कमलेश्वर पटेल ने सोमवार को सीहोर में मीडिया से बातचीत करते हुए केन्द्र सरकार पर अपनी कमियां छुपाने के लिए सीएए लागू करने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि केन्द्र सरकार ने सदन में बहुमत का दुरुपयोग कर जनता पर जबरदस्ती सीएए अधिनियम थोपा गया है। हमारे देश में कोई ऐसा वतावरण नही था जिसके लिए इसकी आवश्यकता हो। यहां सभी समाज संप्रदाय के लोग मिलकर रह रहे हैं। उन्होंने कहा कि आज नागरिकों को मूलभूत सुविधाए देने, युवाओं के रोजगार, अर्थव्यवस्था ठीक करने और किसानों की व्यवस्था को सुधारने की जरुरत है। लेकिन केंद्र सरकार अपनी सब कमियां छुपाने और देश हित के मुद्दों से ध्यान हटाने के लिए सीएए लेकर आई है।    माब लिचिंग को लेकर बोले   धार के मनावर में हुई मॉब लिचिंग की घटना पर मंत्री कमलेश्वर पटेल ने कहा कि भाजपा के नेता और कार्यकर्ता यहां जानबूझकर माहौल खराब करना चाहते है। सरकार को बदनाम करना चाहते है। धार घटना में भी भाजपा के नेता ही शामिल थे।  

Dakhal News

Dakhal News 10 February 2020


bhopal,BJP MLA Narayan Tripathi, raised demand , create Vindhya Pradesh

भोपाल। विंध्य महोत्सव से ठीक पहले एक बार फिर विंध्य को प्रदेश बनाने की मांग उठी है। इस बार मैहर से भाजपा विधायक नारायण त्रिपाठी ने मध्य प्रदेश से अलग होकर विंध्य प्रदेश बनाने की मांग उठाई है। अलग विंध्य प्रदेश बनाने को लेकर उन्होंने मुख्यमंत्री कमलनाथ और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को पत्र भी लिखा है।   भाजपा विधायक नारायण त्रिपाठी ने कहा है कि मध्य प्रदेश से अलग कर विंध्य को नया प्रदेश बनाने की हमारी मांग है। आने वाले बजट सत्र में सरकार से अलग प्रदेश बनाने को लेकर प्रस्ताव लाकर केंद्र सरकार को भेजने की मांग करुंगा। उन्होंने कहा कि विंध्य प्रदेश बनाने को लेकर विंध्य से भोपाल तक जन आंदोलन होगा। जिसमें दलगत राजनीति से उठकर सभी दलों के जनप्रतिनिधियों से संवाद करेंगे। भाजपा विधायक नारायण त्रिपाठी ने कहा है कि जो लोग विंध्य क्षेत्र को बनाने के साथ है विंध्य की जनता उनके साथ है और साथ नहीं देने वालों का बहिष्कार किया जाएगा। एक एक मतदाता विंध्य प्रदेश को लेकर जबाब देगा।   पहले भी उठ चुकी है मांग गौरतलब है कि इससे पहले भी विंध्य को अलग प्रदेश बनाने की मांग उठ चुकी है। मध्यप्रदेश विधानसभा ने 10 मार्च 2000 को संकल्प पारित कर 'विंध्य प्रदेश' अलग राज्य गठित करने केन्द्र सरकार से मांग की थी। यह संकल्प विधानसभा में अमरपाटन के तत्कालीन विधायक शिवमोहन सिंह ने प्रस्तुत किया था। जिसका विंध्य के सभी विधायकों ने समर्थन कर इस क्षेत्र के दावे के बारे में बताया था। उस दौरान कांग्रेस की सरकार थी, इस संकल्प का समर्थन भाजपा के विधायकों ने भी किया था। सर्व सम्मति से पारित किए गए इस प्रस्ताव के बाद तत्कालीन विधानसभा अध्यक्ष श्रीनिवास तिवारी ने केन्द्र सरकार से कई बार इस पर विचार करने की मांग की थी। अब तक करीब 19 वर्ष का समय बीत गया लेकिन विंध्यप्रदेश के पुनर्गठन की संभावनाएं अभी मरी नहीं हैं। केन्द्र सरकार की ओर से इस पर स्वीकृति या अस्वीकृति का कोई निर्णय नहीं दिया गया है।   

Dakhal News

Dakhal News 9 February 2020


bhopal, Government, should not link , DGP VK Singh ,own importance, Shivraj

भोपाल। प्रदेश के डीजीपी वी.के.सिंह को हटाए जाने की चर्चाओं के साथ ही इस मामले को लेकर प्रदेश में राजनीति शुरू हो गई है। शनिवार को विपक्षी भाजपा के प्रदेश महामंत्री एवं सासंद विष्णुदत्त शर्मा ने इसे लेकर प्रदेश सरकार की खिंचाई की थी। वहीं, रविवार को पूर्व मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने प्रदेश सरकार से कहा है कि वह इस मामले को अपने अहम का प्रश्न न बनाए।    प्रदेश के मीडिया में गत दो दिनों से लगातार ऐसी खबरें चल रही हैं, जिनमें पुलिस महानिदेशक वी.के.सिंह को हटाकर उनकी जगह हनी ट्रैप मामले की जांच कर रही एसआईटी के प्रमुख राजेंद्र कुमार को नया डीजीपी बनाने की बात कही जा रही है। इसके साथ ही सरकार की इस कवायद का विरोध शुरू हो गया है। विरोध करने वाले नेताओं में विपक्षी भाजपा के नेता तो शामिल हैं ही, कांग्रेस सरकार के ही वरिष्ठ मंत्री डॉ. गोविंदसिंह ने भी वी.के.सिंह की कार्यप्रणाली को सही बताया है। वहीं, रविवार को इसी मुद्दे पर पूर्व मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने भी प्रदेश सरकार को घेरा है। पूर्व मुख्यमंत्री चौहान ने कहा है कि वरिष्ठ मंत्री डॉ. गोविंदसिंह ने वी.के.सिंह की कार्यशैली का समर्थन किया है, जिसका हम स्वागत करते हैं। उन्होंने कहा है कि कमलनाथ सरकार तथा कांग्रेस के नेताओं को डॉ. गोविंदसिंह से सीख लेना चाहिए।    राजगढ़ की घटना का भी जिक्र पूर्व मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने राजगढ़ कलेक्टर निधि निवेदिता द्वारा सीएए का समर्थन कर रहे लोगों तथा पुलिस और प्रशासन के कर्मचारियेां को भी थप्पड़ मारे जाने की घटना का जिक्र करते हुए कहा है कि सरकार एक कर्त्तव्यपरायण डीजीपी को हटाना चाहती है, जबकि लोकतंत्र का अपमान करने वाली कलेक्टर को बनाए रखना चाहती है। उन्होंने कहा है कि सरकार को इस मामले को अहम से न जोड़ते हुए सत्य व न्याय का पक्ष लेना चाहिए। गौरतलब है कि राजगढ़ कलेक्टर निधि निवेदिता के खिलाफ कार्रवाई की अनुशंसा किए जाने को भी डीजीपी वी.के.सिंह को हटाने की एक वजह माना जा रहा है। 

Dakhal News

Dakhal News 9 February 2020


bhopal,BJP leaders, mourn,  senior Sangh pracharak P Parameswaran

भोपाल। राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ(आरएसएस) के वरिष्ठतम प्रचारकों में से एक पी. परमेश्वरन का शनिवार रात 91 वर्ष की उम्र में निधन हो गया है। भारतीय जन संघ के पूर्व नेता पी परमेश्वरन ने रविवार रात 12 बजकर 10 मिनट पर अंतिम सांस ली। परमेश्वरन भारतीय विचार केंद्र के संस्थापक निदेशक भी रहे हैं। केरल के पलक्कड़ जिले के ओट्टापलम में उनका आयुर्वेदिक उपचार चल रहा था, जहां उन्होंने अंतिम सांस ली। उनके निधन पर मप्र भाजपा नेताओं ने गहरा दुख व्यक्त कर श्रद्धांजलि दी है।    मप्र के पूर्व मुख्यमंत्री और भाजपा राष्ट्रीय उपाध्यक्ष शिवराज सिंह चौहान ने पी परमेश्वरन के निधन पर गहरा दुख जताते हुए दिवंगत आत्मा की शांति की प्रार्थना की है। शिवराज ने ट्वीट कर लिखा ‘राष्ट्र सेवा और उत्थान के लिए अपना सम्पूर्ण जीवन होम कर देने वाले राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रचारक, भारतीय विचार केंद्र के संस्थापक, हमारे श्रद्धेय पी. परमेश्वरन जी के निधन के समाचार से दु:खी हूं। ईश्वर दिवंगत आत्मा को शांति और परिजनों को संबल दें। विनम्र श्रद्धांजलि’!   नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव ने ट्वीट कर लिखा ‘सादर श्रद्धांजलि..जनसंघ नेता और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रचारक श्री पी. परमेश्वरन जी के निधन का दु:खद समाचार मिला। ईश्वर दिवंगत आत्मा को अपने श्रीचरणों में स्थान दें। पद्मविभूषण मा. परमेश्वरनजी नहीं रहे। गत 7 दशक से संघ के प्रचारक,राष्ट्रवादी विचारों के प्रखर उद्घोषक,विवेकानंद केन्द्र के अध्यक्ष परमेश्वरनजी का जाना केरल और भारत के बौद्धिक जगत के लिये बड़ी क्षति है ईश्वर आत्मा को अपने चरणों में स्थान प्रदान करे। ॐ शांति शांति’।    भाजपा राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने वरिष्ठ संघ प्रचारक पी परमेश्वरन के निधन को अपूरणीय क्षति बतलाते हुए ट्वीट कर लिखा ‘संघ से जुड़े भाजपा के वयोवृद्ध नेता श्री पी परमेश्वरन जी का निधन अपूरणीय क्षति हैं। वे संवेदनशील लेखक, विचारक, कवि और शोधकर्ता थे। उन्होंने पार्टी में भी कई पदों का दायित्व संभाला। ईश्वर दिवंगत आत्मा को अपने श्रीचरणों में स्थान दे और परिजनों को ये दु:ख सहने की शक्ति प्रदान करे’।   केन्द्रीय मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने दिवंगत आत्मा को नमन करते हुए ट्वीट कर लिखा ‘जनसंघ नेता, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रचारक और भारतीय विचार केंद्र के संस्थापक श्रद्धेय श्री पी. परमेश्वरन जी के निधन का दु:खद समाचार प्राप्त हुआ। ईश्वर दिवंगत आत्मा को अपने श्रीचरणों में स्थान दे। ॐ शांति’!

Dakhal News

Dakhal News 9 February 2020


bhopal,  Congress targeted,BJP , Chhatarpur incident

भोपाल। अपने ही दफ्तर पर हमला और तोड़फोड़ की साजिश रचने वाले छतरपुर के एसडीएम को पुलिस द्वारा गिरफ्तार कर लिया गया है। हमले की साजिश एसडीएम ने कुछ भूमाफियाओं की मदद से रची थी, प्रारंभिक तौर पर पुलिस का ऐसा कहना है। पुलिस इस मामले की गहराई से जांच कर रही है, लेकिन इसी बीच इसे लेकर प्रदेश कांग्रेस ने विपक्षी भाजपा पर निशाना साध लिया है। पार्टी का कहना है कि एसडीएम के साथ इस साजिश में एक भाजपा नेता शामिल था।    प्रदेश कांग्रेस ने छतरपुर एसडीएम के खिलाफ पुलिस की कार्रवाई और साजिश में एसडीएम सपकाले के सहयोगी रहे एक व्यक्ति की गिरफ्तारी का इस्तेमाल भाजपा वार करने के लिये किया है, वहीं इसी मुद्दे का इस्तेमाल अपनी सरकार की तारीफ के लिये करने से भी नहीं चूकी है। पार्टी ने अपने अधिकृत ट्विटर हैंडल से ट्वीट किया है कि भाजपा नेता एसडीएम के साथ साजिश में शामिल था। भाजपा का प्रदेश मंत्री जावेद अख्तर छतरपुर एसडीएम के साथ इस साजिश में शामिल था। पार्टी ने अपनी सरकार की तारीफ करते हुए कहा है कि जांच की तेज धार देखो, कमलनाथ सरकार देखो।    

Dakhal News

Dakhal News 8 February 2020


indore, BJP councilor ,Usman Patel, runs small party ,against CAA

इंदौर। इंदौर के खजराना क्षेत्र अंतर्गत वार्ड -38 से पार्षद और भाजपा के अल्पसंख्यक मोर्चा के पूर्व प्रदेश उपाध्यक्ष उस्मान पटेल ने नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) के विरोध में पार्टी छोड़ दी है। उन्होंने शनिवार को पार्टी के सभी पदों से इस्तीफा दे दिया है। इस्तीफा देने का कारण उन्होंने सीएए और एनसीआर को बताया है। उन्होंने इस नये कानून को मुस्लिम विरोध बताया है।  भाजपा पार्षद उस्मान पटेल ने अपना त्यागपत्र पार्टी के नगर अध्यक्ष गोपीकृष्ण नेमा को सौंप दिया है। इस अवसर पर उन्होंने मीडिया से बातचीत में कहा है कि वे पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी से प्रेरित होकर भाजपा में शामिल हुए थे और 40 साल तक पार्टी के हित में काम किया, लेकिन अब भाजपा नफरत की राजनीति कर रही है। उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि सीएए-एनसीआर मुस्लिम विरोधी और देश के संविधान के खिलाफ है। पार्टी के लिए मैं अपनी कौम को नहीं छोड़ सकता, इसीलिए पार्टी से इस्तीफा दे रहा हूं। इस समय सीएए-एनसीआर के खिलाफ कौम के जो बच्चे-बुजुर्ग, महिलाएं-पुरुष सडक़ों पर बैठे हैं, मैं उनके साथ हूं और हमेशा उनका साथ देता रहूंगा।

Dakhal News

Dakhal News 8 February 2020


bhopal, Chief Minister Kamal Nath ,Vishnudutt Sharma, removing DGP ,save slapped collector

भोपाल। राजगढ़ की कलेक्टर ने सिर्फ भाजपा कार्यकर्ताओं और आम नागरिकों से ही बदसलूकी नहीं की थी, बल्कि एक एएसआई को भी थप्पड़ मारा था। पुलिस महकमे द्वारा कराई गई जांच में यह आरोप सही पाया गया था और डीजीपी वीके सिंह ने इस मामले में कार्रवाई के लिये गृह सचिव को पत्र भी लिखा था। यदि वीके सिंह ही डीजीपी रहते, तो कलेक्टर निधि निवेदिता के खिलाफ कार्रवाई होना तय थी। ऐसे में कलेक्टर को बचाने के लिए ही मुख्यमंत्री कमलनाथ एक कर्त्तव्यनिष्ठ अधिकारी की बलि ले रहे हैं। यह बात भाजपा के प्रदेश महामंत्री व सांसद विष्णुदत्त शर्मा ने डीजीपी वीके सिंह को हटाए जाने से संबंधित समाचारों पर शनिवार को प्रतिक्रिया देते कही।   सांसद शर्मा ने कहा कि कमलनाथ सरकार के लिये अधिकारियों की ईमानदारी, कर्तव्यनिष्ठा या उनकी कार्यक्षमता कोई मायने नहीं रखती। इस सरकार में यही बात मायने रखती है कि किसी अफसर के सिर पर किस कांग्रेस नेता का हाथ है और वह अफसर सारी नैतिकता और कायदे-कानून को ताक पर रखकर जी-हुजूरी करने की क्षमता रखता है या नहीं। अफसरों की पदस्थापना का मापदंड भी यही है और उनकी योग्यता को मापने का पैमाना भी यही है। सरकार की सोच का असर पूरे प्रदेश में प्रशासनिक अराजकता के रूप में दिखाई दे रहा है। कहीं, एक डिप्टी कलेक्टर, कलेक्टर पर बंधक बनाने का आरोप लगाता है, तो कहीं एसडीएम अपने ही दफ्तर पर हमला कराता है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में पहले ही अपराध और अपराधियों का बोलबाला है। ऐसे में डीजीपी सिंह को हटाने से पुलिस महकमे के मैदानी अफसरों का मनोबल टूटेगा, जिसका खामियाजा प्रदेश की जनता को भुगतना होगा। लेकिन कांग्रेस नेताओं और अपने वफादार अफसरों को उपकृत करने में लगी कमलनाथ सरकार को प्रदेश की कोई चिंता नहीं है।  

Dakhal News

Dakhal News 8 February 2020


bhopal, Narottam,  allegation is going , according  industrialists

भोपाल। रिलायंस समूह के चेयरमैन अनिल अंबानी के सासन पॉवर प्रोजेक्ट पर सरकार का 450 करोड़ रुपये बकाया है। सरकार ने इसकी वसूली की मियाद अब एक साल से बढ़ाकर चार साल कर दी है। सरकार के फैसले के बाद अब इस पर राजनीति शुरू हो गई है। मप्र के पूर्व मंत्री और भाजपा विधायक नरोत्तम मिश्रा ने कमलनाथ सरकार पर प्रदेश की उद्योग नीति को उद्योगपतियों की सहूलियत से तय करने का गंभीर आरोप लगाया है।    पूर्व मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने शुक्रवार को अनिल अंबानी को 450 करोड रुपये चुकाने में राज्य सरकार द्वारा दी गई मोहलत पर आपत्ति जताते हुए कहा कि मध्यप्रदेश में कमलनाथ सरकार का स्पेशल पैकेज चल रहा है, लूट सके तो लूट... कमलनाथ की छूट। अनिल अंबानी को साढ़े चार सौ करोड़ रुपये की चार साल छूट देकर माफ करने की जो कोशिश मप्र के खजाने से हो रही है, वह चिंता का विषय है। उन्होंने कहा कि एक तरफ सरकार कहती है कि खजाना खाली है और दूसरी तरफ उद्योगनीति उद्योगपतियों के हिसाब से चल रही है।    नरोत्तम मिश्रा ने आरोप लगाते हुए कहा कि पैसा गरीबों का है किसानों का पैसा किसानों को कर्ज माफी में नहीं दिया जाता, कन्यादान योजना में 51 हजार रुपये करे दिए, लेकिन रुपये अब तक नहीं मिले। बेरोजगार नौजवानों को आज तक एक ढेला नहीं मिला। लेकिन अनिल अंबानी को साढ़े चार सौ करोड़ की छूट, आईफा अवार्ड को सात सौ करोड? उन्होंने कहा कि मप्र कहा जा रहा है, क्या हालत कर दी है। कारपोरेट कल्चर पूरे मध्यप्रदेश में लागू है और गरीब का जीना मुहाल कर दिया है।

Dakhal News

Dakhal News 7 February 2020


bhopal, Shivraj , four meetings ,favor of BJP candidates, Delhi

भोपाल। पूर्व मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान दिल्ली विधानसभा के चुनावों में लगातार सक्रिय बने हुए हैं। बुधवार को भी वे दिल्ली में भाजपा उम्मीदवारों के समर्थन में चार सभाओं को संबोधित करेंगे। इसकी जानकारी उन्होंने ट्वीट करके दी है।    पूर्व मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान बुधवार को दोपहर 3.00 बजे से दिल्ली की चांदनी चौक विधानसभा सीट से भाजपा प्रतयाशी सुमन कुमार गुप्ता के समर्थन में हनुमान मंदिर यमुना बाजार में सभा को संबोधित करेंगे। अपराह्न 4.30 बजे ओखला विधानसभा के ग्राम जसौला में पार्टी उम्मीदवार ब्रह्मसिंह के समर्थन में सभा लेंगे। शाम 6.00 बजे ग्रेटर कैलाश विधानसभा के सेंट्रल पार्क में पार्टी प्रत्याशी शिखा रॉय के समर्थन में सभा को संबोधित करेंगे। इसके उपरांत रात्रि 8.30 बजे महरौली विधानसभा के कालूराम चौक पर पार्टी प्रत्याशी कुसुम खत्री के पक्ष में सभा लेंगे। उन्होंने ट्वीट करके दिल्ली के नागरिकों से कहा है कि भाजपा दिल्ली में विकास की गंगा बहाने को तत्पर है और प्रधानमंत्री मोदी दिल्ली को दुनिया की सबसे सुंदर राजधानी बनाने के लिये प्रतिबद्ध हैं, आइये इस बारे में संवाद करें।   

Dakhal News

Dakhal News 5 February 2020


bhopal, Former minister , matter of selling , land of temples

भोपाल।  मध्य प्रदेश की कमलनाथ सरकार मंदिरों की जमीनों को नीलाम करने की तैयारी में है। इसके लिए मंत्रिपरिषद की बैठक में प्रस्ताव लाए जाने की चर्चा है। सरकार के धार्मिक न्यास और धर्मस्व विभाग द्वारा मंदिरों की जमीन नीलाम करने की तैयारी विवादों में आ गई है। इस मुद्दे ने कांग्रेस और भाजपा को आमने-सामने ला दिया है। भाजपा ने सरकार के इस प्रयास को हिंदू विरोधी करार दिया है और विरोध करने का ऐलान किया है। वहीं, कांग्रेस का कहना है कि असल में, मंदिर-मठों की जमीन कब्जा मुक्त कराए जाने से भाजपा को तकलीफ हो रही है।   मंदिरों की जमीन को नीलाम करने की सरकार की इस कवायद पर भाजपा ने सवाल उठाए हैं, पूर्व मंत्री और भाजपा विधायक नरोत्तम मिश्रा ने इस पूरे मामले पर तीखी प्रतिक्रिया देते हुए कांग्रेस पर तुष्टिकरण की राजनीति करने का आरोप लगाया है। बुधवार को मीडिया से बातचीत करते हुए पूर्व मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने मंदिर की खाली जमीन बेचने के मामले में सरकार पर कटाक्ष किया है। उन्होंने कहा कि सरकार को इसके दुष्परिणामों का ज्ञान नही है। मठ मंदिरों की जमीन पर अगर होटल बनेगा, यह धार्मिक स्थान की पवित्रता को खत्म करने के प्रत्यक्ष कोशिश है।    मिंटो हाल में हुए सुंदरकांड आयोजन पर सरकार का घेराव करते हुए नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि जिस दिन उस फाइव स्टार होटल में सुंदरकांड का पाठ कराया था, मैं समझ गया था कि कोई ना कोई तुषाराघात होने वाला है। पूर्व मंत्री मिश्रा ने कांग्रेस सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि कमलनाथ सरकार की नजर वक्फ बोर्ड को जमीनों पर क्यों नहींं पड़ती है। मध्यप्रदेश में वक्फ बोर्ड की जमीन कितनी है यह नहीं दिखाई दिया। कांग्रेस पर तुष्टिकरण की राजनीति करने का आरोप लगाते हुए नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि एक तरफ भाजपा श्रीराम के मंदिर को बनाने के लिए सारी बाधाएं दूर कर रही है। वहीं दूसरी तरफ कांग्रेस पार्टी है जो मंदिरों की जमीन बेच रही है।    आइफा अवॉर्ड की टिकट के लिए लोन दिलाए सरकार मप्र में आइफा अवॉर्ड का आयोजन कराने पर पूर्व मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कमलनाथ सरकार पर तंज कसते हुए कहा कि आइफा अवार्ड की इतनी महंगी टिकट खरीदना आम आदमी के बस में नहीं है। कमलनाथ सरकार को टिकट खरीदने के लिए युवाओं को लोन दिलाना चाहिए। उन्होंने कहा कि स्वाभिमान योजना के तहत युवाओं को लोन दिया जाए। सरकार पर हमला करते हुए उन्होंने कहा कि कमलनाथ सरकार मंदिर की जमीन बेचकर आईफा कराने की योजना में है। 

Dakhal News

Dakhal News 5 February 2020


bhopal, RSS ,e country in the fire , communalism Cooperative Minister

भोपाल। मध्य प्रदेश के सहकारिता मंत्री डॉ. गोविंद सिंह ने एक बार फिर आरएसएस पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि आरएसएस देश को साम्प्रदायिकता की आग में झोंकना चाहती है, जबकि भाजपा हिटलर की तरह तानाशाही कर रही है। उन्होंने कहा कि आरएसएस 50 साल से कहता आया है कि हमारा संगठन राजनैतिक नहीं, लेकिन जब मोहन भागवत मुख्यमंत्री, राज्यपाल को तय करते हैं, तो इससे साफ है कि आरएसएस राजनैतिक दल है।    मंगलवार को मीडिया से बातचीत करते हुए सहकारिता मंत्री गोविंद सिंह ने मोहन भागवत पर निशाना साधते हुए कहा कि आज आरएसएस हर तरह से राजनीति कर रही है। इसलिए संघ प्रमुख मोहन भागवत को अब मुखौटा हटाकर भाजपा की कमान संभालनी चाहिए। आरएसएस का चेहरा सबके सामने आ चुका है कि यह एक संगठन नहीं है बल्कि राजनीतिक दल है।   मंत्री गोविंद सिंह ने सवाल साधते हुए कहा कि वह संघ के नेताओं से पूछना चाहते हैं कि भाजपा की सरकार बनने के बाद आरएसएस के पास इतना पैसा कहां से आ गया है। हर जगह एयरकंडीशन्ड कार्यालय बन गए। जगह-जगह कैंप लगाए जा रहे हैं, इन सब बातों का जवाब आरएसएस को देना ही पड़ेगा।

Dakhal News

Dakhal News 4 February 2020


bhopal, Shivraj appeals , awakened against, disease, World Cancer Day

भोपाल। आज यानि मंगलवार को विश्व कैंसर दिवस है। हर साल 4 फरवरी को विश्व कैंसर दिवस मनाया जाता है। 1933 में अंतरराष्ट्रीय कैंसर नियंत्रण संघ ने स्विट्जऱलैंड के जिनेवा में पहली बार विश्व कैंसर दिवस मनाया। यह दिवस कैंसर के बारे में जागरूकता बढ़ाने, लोगों को शिक्षित करने, इस रोग के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए दुनिया भर में सरकारों और व्यक्तियों को समझाने तथा हर साल लाखों लोगों को मरने से बचाने के लिए मनाया जाता है।   मप्र के पूर्व मुख्यमंत्री और भाजपा राष्ट्रीय उपाध्यक्ष शिवराज सिंह चौहान ने विश्व कैंसर दिवस के मौके पर नागरिकों से स्वस्थ रहने और कैंसर के खिलाफ जागरूक होने की अपील की है। शिवराज ने ट्वीट के जरिए नागरिकों को संदेश दिया है। शिवराज ने अपने ट्वीट में लिखा ‘मेरे प्यारे प्रदेश व देशवासियों, कैंसर को जानलेवा होने से रोकने के लिए नियमित स्वास्थ्य जांच और कैंसर परीक्षण कराएं। इसकी रोकथाम के लिए हम सब व्यक्तिगत रुचि लें व प्रयास करें,तो काफी हद तक इससे होने वाली क्षति को कम कर सकते हैं। आइये #WorldCancerDay पर जागृति के लिए कदम बढ़ाएं’।   भाजपा राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय  ने विश्व कैंसर दिवस पर ट्वीट कर लिखा ‘आज #WorldCancerDay है, जिसका मकसद लोगों को कैंसर जैसी घातक बीमारी के प्रति जागरुक करना है। कैंसर की रोकथाम के लिए सरकारी और गैर-सरकारी संगठन दुनियाभर में सक्रियता से काम कर रहे हैं। उनकी इन गतिविधियों को सफल बनाकर हम इस जानलेवा बीमारी पर काबू पा सकते हैं’।

Dakhal News

Dakhal News 4 February 2020


bhopal, BJP should explain, ideology, Gandhi or Godse

भोपाल। भारतीय जनता पार्टी के सांसद और पूर्व केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार हेगड़े एक बार फिर अपने विवादास्पद बयान के कारण सुर्खियों में हैं। इस बार अनंत हेगड़े ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी पर निशाना साधते हुए उनके स्वतंत्रता संग्राम को वास्तविक आंदोलन नहीं बताते हुए ड्रामा बताया  है। हेगड़े के इस बयान पर राजनीतिक बवाल हो गया है। हेगड़े के बयान पर कांग्रेस हमलावर हो गई है और बयान की निंदा की है।    मप्र के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने भी भाजपा सांसद के बयान को निंदनीय बताते हुए आपत्ति जताई है। सीएम कमलनाथ ने भाजपा पर हमला करते हुए कहा है कि यदि पहले ही गांधी के खिलाफ बोलने वालों पर कड़ी कार्रवाही होती तो दोबारा ऐसा नहीं होता। सीएम कमलनाथ ने ट्वीट कर लिखा ‘राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के स्वतंत्रता आंदोलन के समय किये गये सत्याग्रह को भाजपा सांसद द्वारा ड्रामा बताना बेहद आपत्तिजनक , बेहद निंदनीय। भाजपा नेतृत्व यदि पूर्व में ही बापू के हत्यारे गोडसे को दो-दो बार देशभक्त बताने वाली भाजपा सांसद पर दिखावटी कार्यवाही की बजाय , कड़ी कार्यवाही कर देता तो शायद आज गांधी जी के बारे में इस तरह कहने की किसी में हिम्मत ना होती। साथ ही अपने ट्वीट में सीएम कमलनाथ ने भाजपा ने भाजपा से स्पष्टीक