देवी काली पर महुआ मोइत्रा की टिप्पणी ममता बनर्जी के लिए बनी मुश्किल
देवी काली  मांस खाने  महुआ मोइत्रा  फ़िल्म काली के पोस्टर

देवी काली पर महुआ मोइत्रा की टिप्पणी ममता बनर्जी के लिए बनी मुश्किल........

महुआ मोइत्रा ने कहा था कि मांस खाने वाली और शराब पीने वाली देवी काली की कल्पना करने का उन्हें पूरा अधिकार है.महुआ मोइत्रा ने कहा था कि हर व्यक्ति को अपने देवता और देवी की पूजा अपनी तरह से करने का अधिकार है.बीजेपी ने महुआ मोइत्रा के बयान पर आपत्ति जताते हुए पूछा कि क्या यह बंगाल की सत्ताधारी पार्टी टीएमसी की भी यही राय है? बीजेपी ने कहा कि यह हिन्दू देवी और देवताओं का अपमान है. तृणमूल कांग्रेस ने इस विवाद में ख़ुद को अपनी सासंद की टिप्पणी से अलग कर लिया है और महुआ मोइत्रा के बयान की निंदा की है. पश्चिम बंगाल की कृष्णानगर सीट से लोकसभा सांसद महुआ मोइत्रा ने इंडिया टुडे कॉन्क्लेव में मंगलवार को कहा था कि यह व्यक्ति का अधिकार है कि वह अपने आराध्य को किस रूप में देखता है. महुआ ने कहा था, ''मिसाल के तौर पर आप भूटान और सिक्किम में जाते हैं तो वे पूजा में अपने अराध्य को व्हिस्की देते हैं. लेकिन अगर उत्तर प्रदेश में जाएंगे और प्रसाद के रूप में व्हिस्की देने की बात करेंगे हैं तो लोग इसे ईशनिंदा के रूप में लेंगे.'' महुआ मोइत्रा ने कहा कि लोगों को यह अधिकार है कि अपने अराध्य की कल्पना अपने हिसाब से कर सकें. महुआ मोइत्रा ने कहा था, ''मेरे लिए काली एक मांस खाने वाली और शराब स्वीकार करने वाली देवी हैं. और आप तारापीठ (पश्चिम बंगाल के बीरभूम ज़िले में एक शक्ति पीठ) जाएंगे तो पाएंगे कि साधु स्मोकिंग कर रहे हैं. काली की पूजा करने वाले आपको अलग-अलग मिलेंगे. हिन्दू धर्म के भीतर काली के उपासक के तौर पर मुझे अधिकार है कि मैं अपनी देवी की कल्पना अपने हिसाब से कर सकूं. यही मेरी आज़ादी है.'' मोइत्रा से काली पर विवादित डॉक्यूमेंट्री को लेकर सवाल पूछा गया था. इस फ़िल्म में देवी काली को स्मोक करते हुए दिखाया गया है. मोइत्रा ने कहा था, ''जिस तरह से आपको शाकाहारी और सफ़ेद वस्त्र में ईश्वर की पूजा की आज़ादी है, उसी तरह से मुझे भी मांसाहारी देवी की पूजा की आज़ादी है.'' महुआ मोइत्रा की यह टिप्पणी कुछ ही घंटों में वायरल हो गई. इसके बाद महुआ मोइत्रा ने आरएसएस पर हमला करते हुए एक स्पष्टीकरण जारी किया.महुआ ने कहा था, ''यह सभी संघियों के लिए है. झूठ बोलने से आप बेहतर हिन्दू नहीं बन सकते. मैंने कभी किसी फ़िल्म या पोस्टर का समर्थन नहीं किया और न ही स्मोकिंग शब्द का इस्तेमाल किया है. मैं आपको सलाह दूंगी कि कभी तारापीठ में माँ काली का दर्शन करने जाएं और वहाँ देखिए कि भोग में क्या चढ़ाया जाता है. जय माँ तारा.'' बीजेपी ने कहा कि टीएमसी सुप्रीमो और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री को इस पर स्पष्टीकरण देना चाहिए. पश्चिम बंगाल बीजेपी के प्रदेश उपाध्यक्ष रथिंद्र बोस ने कहा कि यह पहली बार नहीं है जब इस तरह की बात हिन्दू देवी के बारे में टीएमसी के भीतर से कही गई है. बोस ने कहा, ''हमलोग मानते हैं कि यह टीएमसी का आधिकारिक रुख़ है और इससे हिन्दुओं की भावना आहत हुई है.'' हालांकि टीएमसी ने महुआ मोइत्रा के बयान से ख़ुद को अलग कर लिया है. टीएमसी के आधिकारिक ट्विटर हैंडल से मंगलवार को ट्वीट कर कहा गया, ''इंडिया टुडे कॉन्क्लेव में महुआ मोइत्रा ने देवी काली को लेकर जो कुछ भी कहा है, वह उनकी निजी सोच है. उनकी इस टिप्पणी से न तो पार्टी सहमत है और न ही हमारा यह आधिकारिक रुख़ है. तृणमूल कांग्रेस महुआ मोइत्रा की टिप्पणी की निंदा करती है.''कांग्रेस पार्टी के प्रवक्ता गौरव वल्लभ से महुआ मोइत्रा और फ़िल्म काली के पोस्टर के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि वह इस पर कुछ नहीं कहना चाहते हैं. गौरव ने कहा कि मोइत्रा की टिप्पणी टीएमसी का आंतरिक मामला है.गौरव वल्लभ ने कहा, ''हम सभी धर्मों के अराध्यों का सम्मान करते हैं. भारत की ख़ूबसूरती विविधता है.'

Dakhal News 6 July 2022

Comments

Be First To Comment....

Video

Page Views

  • Last day : 8492
  • Last 7 days : 59228
  • Last 30 days : 77178
x
This website is using cookies. More info. Accept
All Rights Reserved © 2022 Dakhal News.