समाज


bhopal,Madhya Pradesh, first state ,country to implement cyber security

भोपाल। मध्यप्रदेश पॉवर सेक्टर में सायबर क्राइसिस प्रबंधन योजना लागू करने वाला देश का पहला राज्य बन गया है। राज्य लोड डिस्पेच सेंटर जबलपुर में इस योजना को लागू किया गया है। मप्र पावर ट्रांसमिशन कंपनी द्वारा विकसित इस प्रणाली को अब पूरे देश में लागू करने की योजना है।मध्यप्रदेश पॉवर ट्रांसमिशन कंपनी के प्रबंध संचालक सुनील तिवारी ने गुरुवार को इसकी जानकारी देते हुए बताया कि केन्द्र शासन के निर्देश पर मध्यप्रदेश पॉवर ट्रांसमिशन कंपनी के स्टेट लोड डिस्पेच सेंटर के इंजीनियर्स ने विशेषज्ञ सलाहकारों की मदद लिए बिना इनहाउस सायबर क्राइसिस प्रबंधन योजना तैयार की है। इस योजना का अनुमोदन कम्प्यूटर इमरजेंसी रिस्पांस टीम (सीईआरटी इंडिया) भारत सरकार द्वारा करवाकर इसे लागू कर दिया है। यह पॉवर सेक्टरों में सायबर अटैक को रोकने में अंतरराष्ट्रीय स्तर की एक कारगर प्रणाली है। यह लोड डिस्पेच सेंटर में स्थापित सभी कम्प्यूटर प्रणालियों की सायबर सुरक्षा से संबंधित है।उल्लेखनीय है कि मध्यप्रदेश देश का ऐसा पहला राज्य है, जिसके लोड डिस्पेच सेंटर को आईएसओ 27001 द्वारा प्रमाणित भी किया गया है। यह सर्टिफिकेट सायबर सिक्योरिटी के अनुपालन के लिए प्रदाय किया जाता है।बिजली प्रणाली में नहीं होगा सायबर अटैकः ऊर्जा मंत्री   प्रदेश के ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर ने इस उपलब्धि पर पॉवर ट्रांसमिशन कंपनी के इंजीनियर्स को बधाई दी है। उन्होंने कहा है कि प्रणाली को लागू करने का लाभ यह है कि मध्यप्रदेश पॉवर ट्रांसमिशन कंपनी का समूचा सिस्टम बाहरी सायबर अटैक से सुरक्षित रहेगा और कोई भी हैकिंग या वायरस के माध्यम से प्रदेश की बिजली प्रणाली में छेड़छाड़ नहीं कर पाएगा। मालूम हो कि गत वर्ष मुंबई की बिजली प्रणाली इस सायबर अटैक का शिकार हुई थी, जिसके कारण मुंबई में घंटों विद्युत व्यवधान रहा था। इस घटना के बाद ही समूचे देश के पॉवर सेक्टरों को इस तरह की सायबर सुरक्षा तैयार करने के निर्देश केन्द्र शासन द्वारा दिए गए थे।मध्यप्रदेश के लिये यह गौरव की बात है कि भारत में पॉवर सेक्टर को विभिन्न दिशा- निर्देश देने वाली संस्था पोसोको (पॉवर सिस्ट्म ऑपरेशन कार्पोरेशन लिमिटेड) और इनफार्मेशन सुरक्षा से संबंधित राष्ट्रीय नोडल एजेंसी एनसीआईआईपीसी(नेशनल क्रिटिकल इन्फार्मेशन इन्फ्रास्ट्रक्चर प्रोटेक्शन सेंटर) ने मध्यप्रदेश पॉवर ट्रांसमिशन कंपनी के द्वारा तैयार किए इस प्रबंधन योजना को पहले परीक्षण में ही अनुमोदन प्रदान कर इस प्रणाली के पॉवर सिस्टम संबंधित सभी प्रस्तावों को स्वीकार किया है। यह प्रणाली राज्य लोड डिस्पेच सेंटर जबलपुर के मुख्य अभियंता केके प्रभाकर एवं अधीक्षण अभियंता राजेश गुप्ता के प्रयास से ही संभव और तैयार हो पायी।इससे पूर्व मध्यप्रदेश पावर ट्रांसमिशन कंपनी के लोड डिस्पेच सेंटर जबलपुर को एबीटी मीटरिंग प्रणाली (उपलब्धता आधारित शुल्क प्रणाली) एवं स्काडा सिस्टम लागू करने वाले देश के पहले पॉवर यूटिलिटी का दर्जा भी प्राप्त हो चुका है।  

Dakhal News

Dakhal News 9 September 2021


betul, rained overnight, three gates , Parasdoh Dam ,were opened

बैतूल। बीती रात से हो रही झमाझम बारिश से सभी नदी नाले उफान पर है मुलताई क्षेत्र में बारिश ज्यादा होने को वजह से ताप्ती नदी पर बने पारसडोह जलाशय का जलस्तर डेम लेबल तक पहुंच गया है। पारसडोह डेम के 3 गेट एक एक फिट तक खोल दिये गए हैं। रात में हुई बारिस से माचना नदी में भी पानी का भाव तेज हो गया है। गुरुवार को मुलताई जल संसाधन विभाग के कार्यपालन यंत्री विपिन वामनकर ने बताया कि बुधवार रात से हो रही बारिस से ताप्ती नदी में जलस्तर बढ़ गया है और ताप्ती पर बने पारसडोह डेम भी लगभग भरा चुका है , चूंकि डेम 15 सितम्बर तक भरना है इसलिए सुरक्षा की दृष्टि से अभी सुबह साढ़े दस बजे डेम के 6 गेट में से 3 गेट एक एक फिट खोल दिये गए है डेम से अभी 124 क्यूबिक पानी बाहर निकाला जा रहा है। वर्तमान में 220 क्यूबिक मीटर पानी की आवक हो रही है। पारस डोह डेम का फुलटेंक लेवल 639.10 मीटर है फिलहाल डेम का लेवल 638.42 हो चुका है। सारणी के सतपुड़ा जलाशय का भी एक गेट खोला गया, हालांकि सतपुड़ा जलाशय के गेट पहले भी खोले जा चुके हैं।

Dakhal News

Dakhal News 9 September 2021


betul, Lightning fell , house of a tantrik,sweeping, woman injured

बैतूल। एक महिला पर प्रेत-बाधा सहित अन्य व्याधियों के चलते झाड़ फूंक कर रहे एक तांत्रिक के घर पर ही आकाशीय बिजली गिर गई। इस घटना में झाड़ फूंक कराने गई महिला घायल हो गई है। महिला को जिला अस्पताल में उपचार के लिए भर्ती कराया गया है। प्राप्त जानकारी के अनुसार चिचोली थाना क्षेत्र का खापा मेंढ़ा गांव जहां दोपहर में एक बाबा तांत्रिक जिसके घर बीमार लोगों की भीड़ लगी हुई थी। तांत्रिक तंत्र विद्या से लोगों की बीमारी का इलाज कर रहा था इसी दौरान आसमान में मौसम खराब हुआ और आकाशीय बिजली सीधे तांत्रिक के घर गिरी, जहां इलाज कराने गई महिला भी बिजली की चपेट में आ गई और गम्भीर रूप से घायल हो गई। घायल महिला को चिचोली सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र लाया गया था, जहां से डॉक्टरों ने महिला को जिला अस्पताल रेफर किया एम्बुलेंस से रात में महिला को जिला अस्पताल लाया गया है। घायल महिला के पति बिहारी लाल ने बताया कि उसकी पत्नी का पेट दर्द हो रहा था। इलाज कराने तांत्रिक के घर गए थे, जहां बिजली गिर गई और उसकी पत्नी घायल हो गई थी।

Dakhal News

Dakhal News 9 September 2021


bhopal, Five weather systems ,active around MP, chances of rain

भोपाल। पिछले कुछ दिनों से मप्र में मानसून ने ब्रेक ले रखा है। प्रदेश के कुछ जिलों में हल्की बौछारें गिर रही है। सितंबर का एक सप्ताह बीतने के बाद अब भी झमाझम बरसात का इंतजार है। मौसम विभाग की माने तो प्रदेश वासियों का इंतजार जल्द खत्म होने वाला है। बंगाल की खाड़ी में बना कम दबाव का क्षेत्र अब गहरे कम दबाव के क्षेत्र में तब्दील हो गया है। मानसून ट्रफ भी इंदौर-भोपाल से होकर गुजर रहा है। महाराष्ट्र पर पूर्वी-पश्चिमी हवाओं का टकराव (शियरजोन) बना हुआ है। कच्छ एवं राजस्थान पर हवा के ऊपरी भाग में चक्रवात बने हुए हैं। मंगलवार-बुधवार को इंदौर, उज्जैन, भोपाल, होशंगाबाद, जबलपुर, सागर, ग्वालियर, चंबल संभागों के जिलों में बारिश के आसार हैं। विशेषकर इंदौर, उज्जैन संभागों के जिलों में कहीं-कहीं भारी वर्षा भी हो सकती है। वरिष्ठ मौसम वैज्ञानिक पीके साहा ने जानकारी देते हुए बताया कि प्रदेश के आसपास एक साथ पांच वेदर सिस्टम सक्रिय है। बंगाल की खाड़ी में बना कम दबाव का क्षेत्र गहरे कम दबाव के क्षेत्र में परिवर्तित हो गया है। वर्तमान में यह सिस्टम उत्तरी आंध्रा और दक्षिणी ओडिशा कोस्ट पर सक्रिय है। इस सिस्टम के उत्तर-पश्चिमी दिशा में आगे बढऩे की संभावना है। मानसून ट्रफ बीकानेर, कोटा, इंदौर, भोपाल, ओडिशा से लेकर बंगाल की खाड़ी में बने गहरे कम दबाब के क्षेत्र तक बना हुआ है। कच्छ में हवा के ऊपरी भाग में चक्रवात बना हुआ है। इसी तरह राजस्थान और उसके आसपास भी हवा के ऊपरी भाग में चक्रवात बना हुआ है। महाराष्ट्र में शियरजोन बना हुआ है। इन पांच वेदर सिस्टम के सक्रिय रहने के कारण प्रदेश के अलग-अलग जिलों में बौछारें पडऩे का सिलसिला बना हुआ है। साहा के मुताबिक मंगलवार-बुधवार को इंदौर संभागों के जिलों में कहीं-कहीं भारी वर्षा भी हो सकती है। इसके अतिरिक्त भोपाल सहित अधिकांश जिलों में गरज-चमक के साथ बौछारें पड़ सकती हैं।

Dakhal News

Dakhal News 7 September 2021


Gwalior,  light showers now, it may rain ,after two days

ग्वालियर। अरब सागर से लगातार आ रही नमी और मानसून की अक्षीय रेखा सतना से होकर गुजरने से ग्वालियर-चम्बल सहित मध्यप्रदेश में कहीं-कहीं गरज-चमक के साथ बौछारें पड़ रही हैं। इसी क्रम में शुक्रवार को भी जहां दिन भर घने बादल छाए रहे वहीं दोपहर करीब सवा 12 बजे से लगभग 15 से 20 मिनट तक शहर में रिमझिम बारिश हुई। मौसम विभाग के अनुसार फिलहाल ऐसी ही स्थिति बनी रहेगी। अगले 24 घंटे के दौरान भी अंचल में बौछारें पड़ सकती हैं, लेकिन छह या फिर सात सितम्बर से एक बार फिर बारिश की झड़ी लगने की उम्मीद है। स्थानीय मौसम वैज्ञानिक के अनुसार वर्तमान में सौराष्ट्र के आसपास हवा के ऊपरी भाग में एक चक्रवात बना हुआ है। इस चक्रवात से लेकर राजस्थान तक एक द्रोणिका लाइन भी बनी हुई है। इससे अरब सागर की तरफ से लगातार नमी आ रही है। उधर बंगाल की खाड़ी में भी हवा के ऊपरी भाग में एक चक्रवात बन गया है। जो छह सितम्बर को कम दबाव के क्षेत्र में बदलने की संभावना है। इसके प्रभाव से छह या सात सितम्बर से ग्वालियर-चंबल सहित प्रदेश के अधिकांश भागों में तेज बारिश का सिलसिला शुरू होने की संभावना है। बारिश का दौर तीन-चार दिन तक चल सकता है। यहां बता दें कि इस मौसम में शुक्रवार सुबह साढ़े आठ बजे तक ग्वालियर शहर में कुल 592.0 मिलीमीटर बारिश होना चाहिए थी, जबकि अभी तक कुल 566.0 मिलीमीटर बारिश हुई है, जो औसत से 26.0 मिलीमीटर कम है। स्थानीय मौसम विज्ञान केन्द्र के अनुसार पिछले दिन की तुलना में शुक्रवार को अधिकतम तापमान 1.3 डिग्री सेल्सियस गिरावट के साथ 33.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, जो औसत से 0.3 डिग्री सेल्सियस अधिक है, जबकि न्यूनतम तापमान 0.3 डिग्री सेल्सियस आंशिक वृद्धि के साथ 25.9 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। यह भी औसत से 0.8 डिग्री सेल्सियस अधिक है। आज सुबह हवा में नमी 83 और शाम को 74 प्रतिशत दर्ज की गई।

Dakhal News

Dakhal News 3 September 2021


indore,Ganesh Chaturthi Festival ,September 10, Kovid protocol

इंदौर। इंदौर के प्रसिद्ध खजराना गणेश मंदिर में गणेश चतुर्थी का महोत्सव कोविड प्रोटोकॉल का पालन करते हुये मनाया जायेगा। यह 10 दिवसीय श्री गणेश चतुर्थी महोत्सव 10 सितंबर से प्रारंभ होगा। गणपति मंदिर खजराना प्रबंध समिति के अध्यक्ष मनीष सिंह के निर्देशानुसार प्रशासनिक तथा अन्य व्यवस्थाएं करने के संबंध में शुक्रवार को मंदिर परिसर में बने सभाकक्ष में बैठक आयोजित की गई। बैठक की अध्यक्षता मंदिर प्रशासक एवं निगमायुक्त प्रतिभा पाल के अध्यक्षता में संपन्न हुई। बैठक में मंदिर परिसर में दर्शन व्यवस्था, सेनेटाइजर तथा मास्क की व्यवस्था, विद्युत साज-सज्जा आदि के संबंध में चर्चा की गई। बैठक में बताया गया कि महोत्सव के दौरान कोविड प्रोटोकॉल का पूरा पालन किया जायेगा। बैठक में मुख्य वरिष्ठ पुजारी मोहन भट्ट एवं अशोक भट्ट, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक राजेश रघुवंशी, डीएसपी यातयात, एसडीएम शाश्वत शर्मा, अपर आयुक्त नगर निगम वीरभद्र शर्मा, प्रबंधक प्रकाश दुबे, भक्त मंडल के सदस्य अरविंद बागड़ी, गोविंद पाटीदार सहित अन्य सदस्य उपस्थित थे। बैठक में यह निर्णय लिया गया कि भगवान गणेश महाराज का पंचामृत से स्नान कराकर मोतियों एवं ज्वैलरी से श्रृंगार करके स्वर्ण मुकुट धारण कराए जाएंगे। गणेश चतुर्थी पर सुबह 10:30 बजे कलेक्टर एवं अध्यक्ष मनीष सिंह ध्वज पूजन करेगें। 51 हजार मोदक का भोग लगेगा। दस दिनों तक अलग-अलग तरह से भगवान का श्रृंगार किया जाएगा। पूरे मंदिर को फूलों से सजाया जाएगा। प्रतिदनि भजन होंगे, यह भजन मंचीय रूप से नहीं होगा। भजन सिर्फ दर्शन करने वाले कतारबद्ध श्रद्धालु सुन पायेंगे। किसी को भी रुकने नही दिया जायेगा, दर्शन करके श्रद्धालु आगे बढ़ते जायेंगे। सभी को मास्क लगाना आवश्यक होगा। सेनेटाइजर और मास्क की व्यवस्था भी मंदिर परिसर में की जायेगी।

Dakhal News

Dakhal News 3 September 2021


ujjain,On Monday, five masks ,seated on the chariot, royal ride of Mahakal

उज्जैन। सोमवार को बाबा महाकाल की इस श्रावण-भादौ मास की सातवीं एवं शाही सवारी निकलेगी। सवारी में रथ पर महाकाल के विभिन्न स्वरूपों के मुघौटे रहेंगे। हाथी पर मन महेश एवं पालकी में चंद्रमौलेश्वर विराजित रहेंगे। इस बार भी दो बैण्ड रहेेंगे। पुलिस बैण्ड इंदौर से बुलवाया जा रहा है। बाबा महाकाल की शाही सवारी वर्तमान के छोटे मार्ग से ही निकलेगी। सोमवार अपरांह 4 बजे मंदिर से पूजन पश्चात बाबा की पालकी मुख्य द्वार पर लाई जाएगी। यहां सशस्त्र सलामी के बाद पालकी बड़ा गणेश,हरसिद्धि मंदिर,सिद्ध आश्रम के समीप से होकर रामघाट पहुंचेगी। गत सवारियों की अपेक्षा इस बार लम्बाई थोड़ी अधिक होगी। छोटा मार्ग होने से रथ पर बाबा के विभिन्न स्वरूप विराजित किए जाएंगे। कोरोना के पूर्व तक यह परंपरा थी कि हर अगली सवारी में बाबा का एक मुघौटा बढ़ाया जाता था। कोरोनाकाल में छोटा मार्ग होने से यह परंपरा बंद कर दी गई। इस बार भी ऐसा ही किया गया। श्रद्धालुओं के बीच से मांग उठने के चलते पुन: रथ तैयार किया जा रहा है,जिसमें पांच मुघौटे विराजीत किए जाएंगे। हाथी पर मनमहेश रहेंगे और पालकी में चंद्रमौलेश्वर विराजीत रहेंगे। सवारी मार्ग पर आतिशबाजी, पूष्प वर्षा, रंगोली निर्माण होगा। इनका कहना है इस संबंध में सहायक प्रशासक मूलचंद जूनवाल ने बताया कि शाही सवारी में रथ में पांच मुघौटे विराजीत किए जाएंगे। एक पुलिस बैण्ड इंदौर से आएगा। शेष स्वरूप गत सवारियों जैसा होगा। पूर्व की तरह सवारी मार्ग पर,सवारी में श्रद्धालुओं का प्रवेश निषेध रहेगा और सजीव प्रसारण किया जाएगा।ज्योतिरादित्य सिंधिया आएंगे शाही सवारी में केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया आएंगे और संभवत: रामघाट पहुंचकर भगवान का पूजन करेंगे। तत्कालिन सिंधिया रियासत के समय से यह परंपरा है कि शाही सवारी में परिवार का एक सदस्य पूजन हेतु अवश्य से आता है। सिंधिया के नजदीकी सूत्रों के अनुसार वे 6 सितंबर को उज्जैन आएंगे और गोपाल मंदिर दर्शन करने के पश्चात रामघाट पहुंचकर बाबा महाकाल का पूजन करेंगे।  

Dakhal News

Dakhal News 3 September 2021


anuppur, Elephant team ,reached Chhattisgarh, administration alert

अनूपपुर। वन परिक्षेत्र बिजुरी अंतर्गत बेलगांव बीट के पटेरा टोला में बुधवार की रात झोपड़ी में सो रहे ग्रामीण दंपत्ति के साथ ही 4 वर्षीय मासूम की कुचलकर मारने के बाद 7 सदस्यीय हाथियों का दल विचरण करते हुए छत्तीसगढ़ राज्य के वन परीक्षेत्र मनेंद्रगढ़ अंतर्गत घुटरा बीट पहुंच गया है, जहां गुरुवार की रात हाथियों ने ग्रामीणों के घरों को नुकसान पहुंचा कर तोडफ़ोड़ की। हालांकि ग्रामीण पूर्व सूचना के आधार पर मौके से भाग गए, जिस वजह से जनहानि नहीं हो पाई। वन विभाग के अनुसार शुक्रवार सुबह भी हाथियों का दल छत्तीसगढ़ राज्य के वन परिक्षेत्र मनेंद्रगढ़ के सेलवा, बिहारपुर एवं अमृतधारा क्षेत्र में डेरा जमाए हुए है। अनूपपुर जिले की सीमा से लगे हुए इस क्षेत्र में हाथियों के उपस्थित होने से अभी तक खतरा टला नहीं है। जिसको लेकर वन परीक्षेत्र बिजुरी के अधिकारी भी सतर्कता बरत रहे हैं।

Dakhal News

Dakhal News 27 August 2021


bhopal, Topped across, country in getting, MP Water Testing Laboratories

भोपाल। जल परीक्षण प्रयोगशालाओं के लिए राष्ट्रीय परीक्षण और संशोधन प्रयोगशाला प्रत्यायन बोर्ड (NABL) से मान्यता प्रमाण-पत्र प्राप्त करने वाले राज्यों में मध्यप्रदेश देशभर में प्रथम स्थान पर है। मध्यप्रदेश में अब तक 51 प्रयोगशालाओं को मान्यता प्रमाण-पत्र मिले हैं, जबकि 30 प्रयोगशालाओं के मान्य प्रमाण पत्र प्राप्त करके महाराष्ट्र देश में दूसरे स्थान पर है। जनसम्पर्क अधिकारी समर चौहान ने शुक्रवार को इसकी जानकारी देते हुए बताया कि भारत सरकार के जल शक्ति मंत्रालय के निर्देश हैं कि सभी राज्य अपनी जल परीक्षण प्रयोगशालाओं के लिए निर्धारित अन्तराल में प्रत्यायन बोर्ड से (NABL) प्रमाण-पत्र प्राप्त करें, ताकि इस सेवा की उच्च गुणवत्ता के प्रति विश्वसनीयता बनी रहे।उन्होंने बताया कि लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग की प्रदेश में राज्य और जिला स्तरीय 51 प्रयोगशालाओं को प्रत्यायन बोर्ड (NABL) द्वारा मान्यता प्रमाण-पत्र प्रदान किए गए हैं। देश की विभिन्न जल परीक्षण प्रयोगशालाओं की मान्यता प्राप्त करने वाले राज्यों में मध्यप्रदेश अव्वल एवं 30 प्रयोगशालाओं के मान्यता प्रमाण-पत्र प्राप्त करने वाला महाराष्ट्र राज्य दूसरे स्थान पर है।समर चौहान ने बताया कि आम नागरिक को प्रदाय किए जा रहे जल की गुणवत्ता का समय-समय पर परीक्षण किया जाता है। इसके लिए प्रदेश में पीएचई विभाग द्वारा एक राज्य स्तरीय और 55 जिला स्तरीय (इनमें उन्नयन की गई खुरई, मऊगंज, सरदारपुर तथा परासिया) प्रयोगशालाएँ संचालित हैं। इसके अतिरिक्त 100 उपखण्ड स्तरीय प्रयोगशालाएँ भी संचालित हैं।उन्होंने बताया कि पेयजल की गुणवत्ता सुनिश्चित करने के लिए विभिन्न राज्यों द्वारा अपनी जल परीक्षण प्रयोगशालाओं के प्रमाणीकरण हेतु निर्धारित मापदण्डों और शुल्क के साथ आवेदन दिए जाते हैं। राष्ट्रीय परीक्षण और अशंशोधन प्रयोगशाला प्रत्यायन बोर्ड (NABL) से अब तक 25 राज्यों की 182 जल परीक्षण प्रयोगशालाओं को जारी किए गये मान्यता प्रमाण-पत्रों में मध्यप्रदेश की सर्वाधिक 51 प्रयोगशालाएँ शामिल हैं।

Dakhal News

Dakhal News 27 August 2021


bhopal, Topped across, country in getting, MP Water Testing Laboratories

भोपाल। जल परीक्षण प्रयोगशालाओं के लिए राष्ट्रीय परीक्षण और संशोधन प्रयोगशाला प्रत्यायन बोर्ड (NABL) से मान्यता प्रमाण-पत्र प्राप्त करने वाले राज्यों में मध्यप्रदेश देशभर में प्रथम स्थान पर है। मध्यप्रदेश में अब तक 51 प्रयोगशालाओं को मान्यता प्रमाण-पत्र मिले हैं, जबकि 30 प्रयोगशालाओं के मान्य प्रमाण पत्र प्राप्त करके महाराष्ट्र देश में दूसरे स्थान पर है। जनसम्पर्क अधिकारी समर चौहान ने शुक्रवार को इसकी जानकारी देते हुए बताया कि भारत सरकार के जल शक्ति मंत्रालय के निर्देश हैं कि सभी राज्य अपनी जल परीक्षण प्रयोगशालाओं के लिए निर्धारित अन्तराल में प्रत्यायन बोर्ड से (NABL) प्रमाण-पत्र प्राप्त करें, ताकि इस सेवा की उच्च गुणवत्ता के प्रति विश्वसनीयता बनी रहे।उन्होंने बताया कि लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग की प्रदेश में राज्य और जिला स्तरीय 51 प्रयोगशालाओं को प्रत्यायन बोर्ड (NABL) द्वारा मान्यता प्रमाण-पत्र प्रदान किए गए हैं। देश की विभिन्न जल परीक्षण प्रयोगशालाओं की मान्यता प्राप्त करने वाले राज्यों में मध्यप्रदेश अव्वल एवं 30 प्रयोगशालाओं के मान्यता प्रमाण-पत्र प्राप्त करने वाला महाराष्ट्र राज्य दूसरे स्थान पर है।समर चौहान ने बताया कि आम नागरिक को प्रदाय किए जा रहे जल की गुणवत्ता का समय-समय पर परीक्षण किया जाता है। इसके लिए प्रदेश में पीएचई विभाग द्वारा एक राज्य स्तरीय और 55 जिला स्तरीय (इनमें उन्नयन की गई खुरई, मऊगंज, सरदारपुर तथा परासिया) प्रयोगशालाएँ संचालित हैं। इसके अतिरिक्त 100 उपखण्ड स्तरीय प्रयोगशालाएँ भी संचालित हैं।उन्होंने बताया कि पेयजल की गुणवत्ता सुनिश्चित करने के लिए विभिन्न राज्यों द्वारा अपनी जल परीक्षण प्रयोगशालाओं के प्रमाणीकरण हेतु निर्धारित मापदण्डों और शुल्क के साथ आवेदन दिए जाते हैं। राष्ट्रीय परीक्षण और अशंशोधन प्रयोगशाला प्रत्यायन बोर्ड (NABL) से अब तक 25 राज्यों की 182 जल परीक्षण प्रयोगशालाओं को जारी किए गये मान्यता प्रमाण-पत्रों में मध्यप्रदेश की सर्वाधिक 51 प्रयोगशालाएँ शामिल हैं।

Dakhal News

Dakhal News 27 August 2021


bhopal, Heavy rain expected, 12 districts, Bhopal may also, receive showers

भोपाल। मध्य प्रदेश का मौसम फिर बदल रहा है। पिछले 24 घंटे में कई जिलों में बारिश हुई है और अगले 24 घंटे में 12 जिलों में भारी बारिश का अलर्ट जारी किया गया है। बंगाल की खाड़ी में कम दबाव का क्षेत्र बन गया है। साथ ही मानसून ट्रफ का एक छोर भी बंगाल की खाड़ी में पहुंच गया है। इस वजह से शिथिल हुआ मानसून एक बार फिर सक्रिय हो गया है। मौसम विभाग के मुताबिक मंगलवार से प्रदेश के अधिकांश जिलों में कहीं-कहीं बौछारें पडऩे का सिलिसला शुरू होने के आसार हैं। इस दौरान जबलपुर, होशंगाबाद संभागों के जिलों में कहीं-कहीं भारी बारिश भी हो सकती है। वरिष्ठ मौसम वैज्ञानिक अजय शुक्ला ने जानकारी देते हुए बताया कि बंगाल की खाड़ी में बन रहे चक्रवात के 17 अगस्त को कम दबाव के क्षेत्र में तब्दील होकर आगे बढऩे की संभावना है, इससे 18 अगस्त के बाद राजधानी सहित जबलपुर, होशंगाबाद, इंदौर संभागों के जिलों में बारिश का दौर शुरू होने की संभावना है। वही 19 के बाद इंदौर सहित प्रदेश भर में मानसून की गतिविधियों में तेजी आएगी और फिर झमाझम बारिश होगी। इसके अतिरिक्त एक पश्चिमी विक्षोभ पाकिस्तान पर सक्रिय है। इन तीन वेदर सिस्टम के सक्रिय रहने से बड़े पैमाने पर नमी के आने का सिलसिला शुरू हो गया है। इस वजह से पूरे मध्यप्रदेश में अच्छी बारिश होने के आसार बन गए हैं। बंगाल की खाड़ी में बने कम दबाव के क्षेत्र पश्चिम-उत्तर-पश्चिम दिशा में आगे बढ़ रहा है। इसके प्रभाव से जबलपुर, शहडोल, भोपाल, होशंगाबाद, इंदौर, सागर, ग्वालियर, चंबल संभागों के जिलों में बौछारें पडऩे की संभावना है। इस दौरान होशंगाबाद, जबलपुर संभागों के जिलों में कहीं-कहीं भारी बारिश भी हो सकती है। मौसम विज्ञान केंद्र से मिली जानकारी के मुताबिक पिछले 24 घंटों के दौरान मंगलवार सुबह साढ़े आठ बजे तक मलाजखंड में 21.2, जबलपुर में 6.8, मंडला में 6.4, नरसिंहपुर में चार, उमरिया में 2.7, बौतूल में 2.2, सतना में 0.6, गुना में 0.4, होशंगाबाद, सागर में 0.1 मिलीमीटर बारिश दर्ज हुई। इस दौरान भोपाल में भी कहीं-कहीं हल्की बौछारें पड़ीं। मौसम विज्ञान केंद्र ने बताया कि बंगाल की खाड़ी में ओडिशा के दक्षिणी और आंध्र के उत्तरी कोस्ट के बीच एक कम दबाव का क्षेत्र बन गया है। मानसून ट्रफ का पश्चिमी छोर हिमालय की तराई में है, जबकि पूर्वी छोर बंगाल की खाड़ी में बने कम दबाव के क्षेत्र तक बना हुआ है।   इन जिलों में बारिश के आसार मौसम विभाग के अनुसार, आज मंगलवार को उज्जैन, भोपाल, शहडोल, जबलपुर, इंदौर, होशंगाबाद, ग्वालियर-चंबल, सागर और रीवा संभागों में कहीं कहीं बारिश की संभावना है। वही होशंगाबाद, बैतूल, धार, हरदा, खंडवा, खरगोन, बुरहानपुर, बड़वानी, अनूपपुर, डिंडौरी, छिंदवाड़ा, मंडला और नरसिंहपुर में भारी बारिश की संभावना के चलते येलो अलर्ट जारी किया गया है। जबलपुर, इंदौर, उज्जैन, भोपाल, शहडोल, होशंगाबाद संभागो के साथ गुना जिलें में गरज चमक के साथ बिजली चमकने और गिरने के आसार है।

Dakhal News

Dakhal News 17 August 2021


bhopal, Heavy rain expected, 12 districts, Bhopal may also, receive showers

भोपाल। मध्य प्रदेश का मौसम फिर बदल रहा है। पिछले 24 घंटे में कई जिलों में बारिश हुई है और अगले 24 घंटे में 12 जिलों में भारी बारिश का अलर्ट जारी किया गया है। बंगाल की खाड़ी में कम दबाव का क्षेत्र बन गया है। साथ ही मानसून ट्रफ का एक छोर भी बंगाल की खाड़ी में पहुंच गया है। इस वजह से शिथिल हुआ मानसून एक बार फिर सक्रिय हो गया है। मौसम विभाग के मुताबिक मंगलवार से प्रदेश के अधिकांश जिलों में कहीं-कहीं बौछारें पडऩे का सिलिसला शुरू होने के आसार हैं। इस दौरान जबलपुर, होशंगाबाद संभागों के जिलों में कहीं-कहीं भारी बारिश भी हो सकती है। वरिष्ठ मौसम वैज्ञानिक अजय शुक्ला ने जानकारी देते हुए बताया कि बंगाल की खाड़ी में बन रहे चक्रवात के 17 अगस्त को कम दबाव के क्षेत्र में तब्दील होकर आगे बढऩे की संभावना है, इससे 18 अगस्त के बाद राजधानी सहित जबलपुर, होशंगाबाद, इंदौर संभागों के जिलों में बारिश का दौर शुरू होने की संभावना है। वही 19 के बाद इंदौर सहित प्रदेश भर में मानसून की गतिविधियों में तेजी आएगी और फिर झमाझम बारिश होगी। इसके अतिरिक्त एक पश्चिमी विक्षोभ पाकिस्तान पर सक्रिय है। इन तीन वेदर सिस्टम के सक्रिय रहने से बड़े पैमाने पर नमी के आने का सिलसिला शुरू हो गया है। इस वजह से पूरे मध्यप्रदेश में अच्छी बारिश होने के आसार बन गए हैं। बंगाल की खाड़ी में बने कम दबाव के क्षेत्र पश्चिम-उत्तर-पश्चिम दिशा में आगे बढ़ रहा है। इसके प्रभाव से जबलपुर, शहडोल, भोपाल, होशंगाबाद, इंदौर, सागर, ग्वालियर, चंबल संभागों के जिलों में बौछारें पडऩे की संभावना है। इस दौरान होशंगाबाद, जबलपुर संभागों के जिलों में कहीं-कहीं भारी बारिश भी हो सकती है। मौसम विज्ञान केंद्र से मिली जानकारी के मुताबिक पिछले 24 घंटों के दौरान मंगलवार सुबह साढ़े आठ बजे तक मलाजखंड में 21.2, जबलपुर में 6.8, मंडला में 6.4, नरसिंहपुर में चार, उमरिया में 2.7, बौतूल में 2.2, सतना में 0.6, गुना में 0.4, होशंगाबाद, सागर में 0.1 मिलीमीटर बारिश दर्ज हुई। इस दौरान भोपाल में भी कहीं-कहीं हल्की बौछारें पड़ीं। मौसम विज्ञान केंद्र ने बताया कि बंगाल की खाड़ी में ओडिशा के दक्षिणी और आंध्र के उत्तरी कोस्ट के बीच एक कम दबाव का क्षेत्र बन गया है। मानसून ट्रफ का पश्चिमी छोर हिमालय की तराई में है, जबकि पूर्वी छोर बंगाल की खाड़ी में बने कम दबाव के क्षेत्र तक बना हुआ है।   इन जिलों में बारिश के आसार मौसम विभाग के अनुसार, आज मंगलवार को उज्जैन, भोपाल, शहडोल, जबलपुर, इंदौर, होशंगाबाद, ग्वालियर-चंबल, सागर और रीवा संभागों में कहीं कहीं बारिश की संभावना है। वही होशंगाबाद, बैतूल, धार, हरदा, खंडवा, खरगोन, बुरहानपुर, बड़वानी, अनूपपुर, डिंडौरी, छिंदवाड़ा, मंडला और नरसिंहपुर में भारी बारिश की संभावना के चलते येलो अलर्ट जारी किया गया है। जबलपुर, इंदौर, उज्जैन, भोपाल, शहडोल, होशंगाबाद संभागो के साथ गुना जिलें में गरज चमक के साथ बिजली चमकने और गिरने के आसार है।

Dakhal News

Dakhal News 17 August 2021


bhopal, Madhya Pradesh, became an ideal state, wildlife conservation

भोपाल। वन्य प्राणी के स्वच्छंद विचरण से प्रकृति का सौंदर्य कई गुना बढ़ जाता है। वन्य प्राणी आम-जन के आस-पास रहते हुए सह-अस्तित्व की स्थिति का स्मरण कराते रहते हैं। मध्यप्रदेश को प्रकृति ने अति समृद्ध हरित प्रदेश बनाया है। मध्यप्रदेश ने इसलिये वन्य प्राणी संरक्षण और प्रबंधन पर विशेष ध्यान देकर वन्य प्राणी समृद्ध प्रदेश बनाने में किसी प्रकार का कोई प्रयास नहीं छोडा। परिणाम सामने है कि प्रदेश को टाइगर स्टेट का दर्जा हासिल है। जनसम्पर्क अधिकारी ऋषभ जैन ने शुक्रवार को बताया कि अब यहां तेंदुओं की संख्या भी देश में सबसे ज्यादा है। घड़ियाल और गिद्धों की संख्या के मामले में राष्ट्रीय स्तर पर नम्बर-वन बनने की स्थिति में आ चुका है। सुखद पहलू यह है कि सतपुड़ा टाईगर रिजर्व को यूनेस्कों की विश्व धरोहर स्थल की संभावित सूची में शामिल किया गया है। सतपुड़ा टाईगर रिजर्व बाघ सहित कई वन्य-जीवों की आदर्श आश्रय स्थली और प्रजनन के सर्वाधिक अनुकूल स्थान है।मध्यप्रदेश बना रहेगा टाइगर स्टेट   उन्होंने बताया कि तीन साल पहले वर्ष 2018 में हुई बाघों की गणना में 526 बाघ होने के साथ प्रदेश को टाईगर स्टेट का दर्जा मिला। इन बाघों में लगभग 60 फीसदी टाइगर रिजर्व के क्षेत्रों और 40 फीसदी बाघ अन्य वन क्षेत्रों में उपलब्ध हैं। बांधवगढ टाइगर रिजर्व में सर्वाधिक 124 बाघ मौजूद हैं। इस साल अक्टूबर माह में तीन चरणों में होने वाली बाघों की गणना के प्रारम्भिक रूझानों के आधार पर विश्वास के साथ कहा जा सकता है कि बाघों की संख्या के मामले में मध्यप्रदेश पुन: टाप पर होगा। यह संख्या 700 से ज्यादा होने की उम्मीद है। टाइगर स्टेट का दर्जा दिलाने में अति विशिष्ट योगदान देने वाली पेंच टाइगर रिजर्व की “कालर कली” बाघिन का नाम विश्व में सबसे ज्यादा प्रसव और शावकों के जन्म का अनूठा कीर्तिमान भी है।मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व में पिछले डेढ़ दशक के दरम्यान श्रेष्ठ और सतत वन्य प्राणी प्रबंधन के प्रयासों से यह मुकाम हासिल हुआ है। संरक्षित क्षेत्रों के बाहर के वनों में वन्य-प्राणी प्रबंधन, पशु-हानि, जन-घायल एवं जन-हानि प्रकरणों की दक्षता एवं त्वरित निपटारा, मानव वन्य-प्राणी द्वन्द का श्रेष्ठ प्रबंधन, वन्य-प्राणी अपराध पर कठोर नियंत्रण, वन्य-प्राणी रहवासों का बेहत्तर प्रबंधन, स्थानीय समुदायों के संरक्षण प्रयासो में भागीदारी, संरक्षित क्षेत्रों से ग्रामों का विस्थापन और उच्च गुणवत्ता के अतिरिक्त वन्य-प्राणी रहवासों की उपलब्धता आदि के बेहत्तर क्रियान्वयन से प्रदेश को यह गौरवान्वित करने वाली उपलब्धियाँ हासिल हुई हैं।बालाघाट जिले के क्षेत्रीय वन मण्डलों में 9 साल पहिले तक बाघों की संख्या शून्य थी जबकि कान्हा पेंच कॉरिडोर का महत्वपूर्ण घटक है और हमेशा से इन वन मंडलों के उत्कृट वन क्षेत्र रहे है। विभागीय सतत् प्रयासों का नतीजा यह हुआ कि इन वन मण्डलों में अब 30 से 40 बाघों की उपस्थिति पाई जाती है। उत्तर शहड़ोल, उमरिया, कटनी, दक्षिण सिवनी, छिन्दवाड़ा, बैतूल, होशंगाबाद, भोपाल और सीहोर आदि जिलों के वन क्षेत्र इसी तरह के उदाहरण हैं।तेन्दुओं की संख्या देश में सबसे ज्यादा   पिछले साल के अंत में केन्द्रीय पर्यावरण एवं वन मंत्री द्वारा तेन्दुए की आबादी की अखिल भारतीय आकंलन की प्रस्तुत रिपोर्ट के अनुसार देशभर में 12 हजार 852 तेन्दुए थे। अकेले मध्यप्रदेश में यह संख्या 3 हजार 421 आंकी गई है। देश में तेन्दुए की आबादी में औसतन 60 फीसदी वृद्धि हुई जबकि प्रदेश में यह वृद्धि 80 फीसदी थी। देशभर में तेन्दुओं की संख्या में 25 प्रतिशत अकेले मध्यप्रदेश में है।गिद्ध और घडियाल बने शान   इस वर्ष हुई प्रदेश व्यापी गिद्ध गणना के अनुसार प्रदेश में 9446 गिद्ध प्रदेश में थे जो अन्य राज्यों की तुलना में सर्वाधिक है। राजधानी भोपाल के केरवा इलाके में 2013 में “गिद्ध संरक्षण और प्रजनन केन्द्र स्थापित किया गया था। इसे बाम्बे नेचुरल हिस्ट्री सोसायटी और प्रदेश सरकार द्वारा संयुक्त रूप से संचालित है।वाइल्ड लाइफ ट्रस्ट इंडिया द्वारा प्रस्तुत रिपोर्ट में सबसे अधिक 1859 घड़ियाल चम्बल अभ्यारण्य में हैं। चार दशक पहले घड़ियालों की संख्या खत्म होने के मुहाने में थी तब दुनिया भर में 200 घडियाल ही बचे थे। इनमें से तब भारत में 96 और चम्बल नदी में 46 घड़ियाल थे। मुरैना जिले के देवरी में स्थापित घड़ियाल प्रजनन केन्द्र हैं। घड़ियालों के अण्डों को सुरक्षित तरीके से हैंचिग की जाती है। घड़ियाल के अण्डों को हेंचरी की रेत में 30 से 36 डिग्री तापमान पर रखा जाता है। इस दौरान अण्डों से कॉलिंग आती है और इससे बच्चे निकलना शुरू हो जाते हैं। इनके बड़े होने पर रहवास जल क्षेत्र में प्राकृतिक रूप से छोड़ दिया जाता है।चीता की आमद   मध्यप्रदेश चीते की आमद के लिये पूरी तरह तैयार है। युद्ध स्तर पर प्रयास चल रहे हैं कि विलुप्त हो चुके “चीता” पहले चरण में मध्यप्रदेश राज्य की स्थापना 1 नवम्बर 2021 को दक्षिण अफ्रीका से लाकर राष्ट्रीय उद्यान कूनो में रखा जाए। इसके लिए साढ़े ग्यारह करोड़ रुपये खर्च किए जायेंगे।अफ्रीका चीता पुनर्स्थापना की तैयारी शुरू हो चुकी हैं। इसमें प्रे-बेस के लिए संरक्षित क्षेत्र गांधी सागर अभ्यारण मंदसौर में शाकाहारी वन्य प्राणियों के ट्रान्सलोकेशन के लिए राज्य शासन ने नरसिंहगढ अभ्यारण्य राजगढ से 500 चीतलों का ट्रांसलोकेशन किए जाने की स्वीकृति दी गई है, जिसकी कार्यवाही प्रचलन में हैं।उल्लेखनीय है कि चीतल का रहवास मुख्यत: मैदानी क्षेत्र में होकर किसानों के खेतों पर भोजन के लिए निर्भर रहते हैं। चीतलों के ट्रांसलोकेशन के साथ जहाँ एक क्षेत्र में प्रे-बेस की संख्या में वृद्वि होगी वहीं फसल हानि और मानव-वन्य प्राणी द्वंद की स्थिति में कमी आ सकेगी।नाईट जंगल सफारी   वन्य प्राणियों के अस्तित्व और उनके महत्व के प्रति जागरूकता बढाने के लिये जिम्मेदारी और बोध से पूर्ण वन्य जीव पर्यटन गतिविधि के अंतर्गत प्रदेश के संरक्षित क्षेत्रों में प्रात: कालीन और अपरान्ह में वाहन से सफारी की जाती है। निशा सफारी के नाम से ही स्पष्ट है, रात्रिकालीन सफारी कहा जाता है। इसमें पर्यटक निशा सफारी में सायंकालीन अवधि में बफर क्षेत्र में सूर्यास्त के चार घंटे बाद तक प्राकृतिक वनों और वन्य प्राणियों के अद्भुत नजारे देखकर प्रफुल्लित हो रहे हैं। इन गतिविधियों के प्रारंभ होते ही लोक प्रियता के शिखर पर हैं। इस व्यवस्था में प्रति सफारी वाहन में एक गाईड और वाहन चालक को दैनिक रोजगार भी मिल रहा है।बैलून सफारी   बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व में पर्यटकों की सुविधाओं को बढ़ाते हुए बैलून सफारी की शुरूआत हो चुकी है। सम्पूर्ण देश की किसी टाइगर रिजर्व के बफर क्षेत्र में होने वाली पहली बैलून सफारी इस प्रदेश में हुई है। अब पर्यटक एरिएल व्यू से बाघ, तेंदुआ, भालू आदि वन्य-प्राणियों को वन-क्षेत्र में विचरण करते हुए आसानी से देख सकेंगे। हॉट एयर बैलून सफारी लॉच होने के साथ ही बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व में आने वाले पर्यटकों की सुविधा में एड हो गई है। इस तरह की गतिविधि शुरू होने से पर्यटकों के बीच काफी पसंद की जा रही है। प्रदेश के अन्य टाईगर रिजर्व में भी यह सुविधा जल्द शुरू की जाएगी।मानव-वन्य प्राणी द्वंद में कमी   प्रदेश में बाघ, तेन्दुए और अन्य वन्य प्राणियों से जनहानि, जनघायल, पशु हानि और फसल हानि की घटनाओं पर अंकुश लगाने के लिए सार्थक प्रयास किए जा रहे हैं। इनसे होने वाली हानि की क्षति-पूर्ति के लिए लोक सेवा गारंटी अधिनियम 2010 में प्रावधान किया गया है। एक निश्चित समयावधि में इस तरह के प्रकरण की जाँच कर क्षति-पूर्ति भुगतान अनिवार्य कर दिया गया है।वन्य प्राणी प्रबंधन में विकास निधि   वन्य प्राणी संरक्षण की निरंतरता और सफलता में जन-समुदायों की भागीदारी को महत्वपूर्ण घटक बनाया गया है। दो दशक पहले प्रावधान किया गया था कि संरक्षित क्षेत्रों में पर्यटन से होने वाली आय संरक्षित क्षेत्र में ही “विकास निधि” के रूप में रहकर विकास कार्य में उपयोग में लाया जाए। बाद के वर्षों में यह प्रावधान समाहित किया गया कि विकास निधि की एक तिहाई राशि संरक्षित क्षेत्र के समीप रहवास करने वाले ग्रामीणों को बिना शर्त प्रदाय कराई जाएगी। इस व्यवस्था से स्थानीय समुदायों के साथ बेहत्तर समन्वय स्थापित करने के उपकरण के रूप में उपयोगी साबित हुई है। उल्लेखनीय है कि प्रत्येक वर्ष संरक्षित क्षेत्रों से तकरीबन 30 करोड़ रूपये की विकास-निधि संचित कर विकास कार्यों में उपयोग की जा रही है। समस्त संसाधनों की तुलना में यह राशि अल्प है पर संरक्षित क्षेत्रों के लिए यह राशि प्राण वायु के समान खास है।वन्य प्राणी प्रबंधन की प्रभावी भूमिका को देखते हुए भारत सरकार द्वारा वन्य-प्राणी (संरक्षण) अधिनियम 1972 के वर्ष 2006 के संशोधन कर उक्त व्यवस्था भारत के सभी टाइगर रिजर्व में लागू कर दी गई है।प्रदेश के वन्य प्रेमियों के लिए खुश-खबरी यह है कि गुजरात के चिड़िया घर से सिंह के दो युवा जोड़ों को गुजरात स्टेट से लाकर भोपाल स्थित वन विहार राष्ट्रीय उद्यान में उनकी ब्रीडिंग करवाई जाएगी। वन विहार राष्ट्रीय उद्यान की पर्यावरणीय स्थिति को देखते हुए केन्द्र सरकार ने सिंह की ब्रीडिंग के लिये उपयुक्त पाया है। लायन ब्रीडिंग कार्यक्रम में भागीदारी करने के परिणामस्वरूप यह जिम्मेदारी वन विहार राष्ट्रीय उदयान को मिली है।

Dakhal News

Dakhal News 13 August 2021


bhopal, break on monsoon activities, Madhya Pradesh

भोपाल। मध्यप्रदेश में बीते दो- तीन दिन से मानसूनी गतिविधियां कम होने का असर अब दिखने लगा है। जुलाई के बाद यह दूसरी बार है, जब मानसूनी गतिविधियां रुकी है। मौसम विभाग के अनुसार भोपाल में अब तक करीब 26 इंच बारिश हो चुकी है, जबकि इस दौरान सामान्य कोटा 23 इंच का होता है। यह सामान्य से 3 इंच ज्यादा है। भोपाल में तेज बारिश रिकॉर्ड नहीं की गई है। रिमझिम फुहारों के कारण बारिश का कोटा पूरा हुआ है। अब अगला सिस्टम बनने के बाद भोपाल में भी तेज बारिश होने के आसार है। वरिष्ठ मौसम वैज्ञानिक अजय शुक्ला ने जानकारी देते हुए बताया कि फिलहाल मौसम साफ हो चुका है और अभी कोई भी एक्टिव सिस्टम नहीं बन रहा है। सिस्टम के हिमालय के तराई के इलाकों में जाने के कारण भोपाल और इंदौर समेत पूरे मध्यप्रदेश में बारिश का दौर अभी थम गया है। अगले चार-पांच दिन तक इसी तरह धूप निकलेगी और शाम और रात में हल्की बारिश होगी। इस बार मानूसन के उत्तर की तरफ जाने से इंदौर में कम बारिश हुई, जबकि ग्वालियर-चंबल में जमकर पानी गिरा। भोपाल में भी इस बार तेज बारिश नहीं हुई, लेकिन रिमझिम फुहारों ने बारिश का कोटा पूरा कर दिया। ब्रेक के बाद 15 अगस्त के दिन सिर्फ हल्की-फुल्की बारिश हो सकती है, कहीं तेज बारिश की संभावना अभी तक नहीं है। अगला सिस्टम 15 अगस्त के बाद ही बनने की उम्मीद है। यह बंगाल की खाड़ी की तरफ से ही हो सकता है, क्योंकि सितंबर में अधिकांश सिस्टम बंगाल की खाड़ी में ही बनते हैं।  

Dakhal News

Dakhal News 12 August 2021


bhopal, break on monsoon activities, Madhya Pradesh

भोपाल। मध्यप्रदेश में बीते दो- तीन दिन से मानसूनी गतिविधियां कम होने का असर अब दिखने लगा है। जुलाई के बाद यह दूसरी बार है, जब मानसूनी गतिविधियां रुकी है। मौसम विभाग के अनुसार भोपाल में अब तक करीब 26 इंच बारिश हो चुकी है, जबकि इस दौरान सामान्य कोटा 23 इंच का होता है। यह सामान्य से 3 इंच ज्यादा है। भोपाल में तेज बारिश रिकॉर्ड नहीं की गई है। रिमझिम फुहारों के कारण बारिश का कोटा पूरा हुआ है। अब अगला सिस्टम बनने के बाद भोपाल में भी तेज बारिश होने के आसार है। वरिष्ठ मौसम वैज्ञानिक अजय शुक्ला ने जानकारी देते हुए बताया कि फिलहाल मौसम साफ हो चुका है और अभी कोई भी एक्टिव सिस्टम नहीं बन रहा है। सिस्टम के हिमालय के तराई के इलाकों में जाने के कारण भोपाल और इंदौर समेत पूरे मध्यप्रदेश में बारिश का दौर अभी थम गया है। अगले चार-पांच दिन तक इसी तरह धूप निकलेगी और शाम और रात में हल्की बारिश होगी। इस बार मानूसन के उत्तर की तरफ जाने से इंदौर में कम बारिश हुई, जबकि ग्वालियर-चंबल में जमकर पानी गिरा। भोपाल में भी इस बार तेज बारिश नहीं हुई, लेकिन रिमझिम फुहारों ने बारिश का कोटा पूरा कर दिया। ब्रेक के बाद 15 अगस्त के दिन सिर्फ हल्की-फुल्की बारिश हो सकती है, कहीं तेज बारिश की संभावना अभी तक नहीं है। अगला सिस्टम 15 अगस्त के बाद ही बनने की उम्मीद है। यह बंगाल की खाड़ी की तरफ से ही हो सकता है, क्योंकि सितंबर में अधिकांश सिस्टम बंगाल की खाड़ी में ही बनते हैं।  

Dakhal News

Dakhal News 12 August 2021


bhopal, break on monsoon activities, Madhya Pradesh

भोपाल। मध्यप्रदेश में बीते दो- तीन दिन से मानसूनी गतिविधियां कम होने का असर अब दिखने लगा है। जुलाई के बाद यह दूसरी बार है, जब मानसूनी गतिविधियां रुकी है। मौसम विभाग के अनुसार भोपाल में अब तक करीब 26 इंच बारिश हो चुकी है, जबकि इस दौरान सामान्य कोटा 23 इंच का होता है। यह सामान्य से 3 इंच ज्यादा है। भोपाल में तेज बारिश रिकॉर्ड नहीं की गई है। रिमझिम फुहारों के कारण बारिश का कोटा पूरा हुआ है। अब अगला सिस्टम बनने के बाद भोपाल में भी तेज बारिश होने के आसार है। वरिष्ठ मौसम वैज्ञानिक अजय शुक्ला ने जानकारी देते हुए बताया कि फिलहाल मौसम साफ हो चुका है और अभी कोई भी एक्टिव सिस्टम नहीं बन रहा है। सिस्टम के हिमालय के तराई के इलाकों में जाने के कारण भोपाल और इंदौर समेत पूरे मध्यप्रदेश में बारिश का दौर अभी थम गया है। अगले चार-पांच दिन तक इसी तरह धूप निकलेगी और शाम और रात में हल्की बारिश होगी। इस बार मानूसन के उत्तर की तरफ जाने से इंदौर में कम बारिश हुई, जबकि ग्वालियर-चंबल में जमकर पानी गिरा। भोपाल में भी इस बार तेज बारिश नहीं हुई, लेकिन रिमझिम फुहारों ने बारिश का कोटा पूरा कर दिया। ब्रेक के बाद 15 अगस्त के दिन सिर्फ हल्की-फुल्की बारिश हो सकती है, कहीं तेज बारिश की संभावना अभी तक नहीं है। अगला सिस्टम 15 अगस्त के बाद ही बनने की उम्मीद है। यह बंगाल की खाड़ी की तरफ से ही हो सकता है, क्योंकि सितंबर में अधिकांश सिस्टम बंगाल की खाड़ी में ही बनते हैं।  

Dakhal News

Dakhal News 12 August 2021


bhopal, break on monsoon activities, Madhya Pradesh

भोपाल। मध्यप्रदेश में बीते दो- तीन दिन से मानसूनी गतिविधियां कम होने का असर अब दिखने लगा है। जुलाई के बाद यह दूसरी बार है, जब मानसूनी गतिविधियां रुकी है। मौसम विभाग के अनुसार भोपाल में अब तक करीब 26 इंच बारिश हो चुकी है, जबकि इस दौरान सामान्य कोटा 23 इंच का होता है। यह सामान्य से 3 इंच ज्यादा है। भोपाल में तेज बारिश रिकॉर्ड नहीं की गई है। रिमझिम फुहारों के कारण बारिश का कोटा पूरा हुआ है। अब अगला सिस्टम बनने के बाद भोपाल में भी तेज बारिश होने के आसार है। वरिष्ठ मौसम वैज्ञानिक अजय शुक्ला ने जानकारी देते हुए बताया कि फिलहाल मौसम साफ हो चुका है और अभी कोई भी एक्टिव सिस्टम नहीं बन रहा है। सिस्टम के हिमालय के तराई के इलाकों में जाने के कारण भोपाल और इंदौर समेत पूरे मध्यप्रदेश में बारिश का दौर अभी थम गया है। अगले चार-पांच दिन तक इसी तरह धूप निकलेगी और शाम और रात में हल्की बारिश होगी। इस बार मानूसन के उत्तर की तरफ जाने से इंदौर में कम बारिश हुई, जबकि ग्वालियर-चंबल में जमकर पानी गिरा। भोपाल में भी इस बार तेज बारिश नहीं हुई, लेकिन रिमझिम फुहारों ने बारिश का कोटा पूरा कर दिया। ब्रेक के बाद 15 अगस्त के दिन सिर्फ हल्की-फुल्की बारिश हो सकती है, कहीं तेज बारिश की संभावना अभी तक नहीं है। अगला सिस्टम 15 अगस्त के बाद ही बनने की उम्मीद है। यह बंगाल की खाड़ी की तरफ से ही हो सकता है, क्योंकि सितंबर में अधिकांश सिस्टम बंगाल की खाड़ी में ही बनते हैं।  

Dakhal News

Dakhal News 12 August 2021


bhopal, break on monsoon activities, Madhya Pradesh

भोपाल। मध्यप्रदेश में बीते दो- तीन दिन से मानसूनी गतिविधियां कम होने का असर अब दिखने लगा है। जुलाई के बाद यह दूसरी बार है, जब मानसूनी गतिविधियां रुकी है। मौसम विभाग के अनुसार भोपाल में अब तक करीब 26 इंच बारिश हो चुकी है, जबकि इस दौरान सामान्य कोटा 23 इंच का होता है। यह सामान्य से 3 इंच ज्यादा है। भोपाल में तेज बारिश रिकॉर्ड नहीं की गई है। रिमझिम फुहारों के कारण बारिश का कोटा पूरा हुआ है। अब अगला सिस्टम बनने के बाद भोपाल में भी तेज बारिश होने के आसार है। वरिष्ठ मौसम वैज्ञानिक अजय शुक्ला ने जानकारी देते हुए बताया कि फिलहाल मौसम साफ हो चुका है और अभी कोई भी एक्टिव सिस्टम नहीं बन रहा है। सिस्टम के हिमालय के तराई के इलाकों में जाने के कारण भोपाल और इंदौर समेत पूरे मध्यप्रदेश में बारिश का दौर अभी थम गया है। अगले चार-पांच दिन तक इसी तरह धूप निकलेगी और शाम और रात में हल्की बारिश होगी। इस बार मानूसन के उत्तर की तरफ जाने से इंदौर में कम बारिश हुई, जबकि ग्वालियर-चंबल में जमकर पानी गिरा। भोपाल में भी इस बार तेज बारिश नहीं हुई, लेकिन रिमझिम फुहारों ने बारिश का कोटा पूरा कर दिया। ब्रेक के बाद 15 अगस्त के दिन सिर्फ हल्की-फुल्की बारिश हो सकती है, कहीं तेज बारिश की संभावना अभी तक नहीं है। अगला सिस्टम 15 अगस्त के बाद ही बनने की उम्मीद है। यह बंगाल की खाड़ी की तरफ से ही हो सकता है, क्योंकि सितंबर में अधिकांश सिस्टम बंगाल की खाड़ी में ही बनते हैं।  

Dakhal News

Dakhal News 12 August 2021


mandsour, Special adornment, Lord Pashupatinath , Hariyali Amavasya

मंदसौर। रविवार को हरियाली अमावस्या पर सुबह भगवान पशुपतिनाथ जी को पूजा अर्चना कर जहां मालपुआ का भोग लगाया गया तो वही शाम को विश्व विख्यात अष्टमुखी भगवान पशुपति नाथ जी का विशेष श्रंगार किया गया वही गर्भ गृह में हरियाली भी बिछाई गई जिससे मंदिर के अंदर चारो और हरा ही हरा दिख रहा था इस दौरान विशेष श्रंगार में भगवान के सैकड़ों भक्तों ने दर्शन कि । जहा पूरे सावन माह में सभी शिवालयों की विशेष साजसज्जा कर रोज अलग-अलग तरह से भगवान शिव की पूजा अर्चना कर भक्ति की जा रही है तो वही भगवान भोले नाथ का रोज अलग-अलग श्रंगार किया जा रहा है तो वही रविवार को हरियाली अमावस्या के उपलक्ष में अष्टा मुखी भगवान पशुपतिनाथ जी का विशेष श्रंगार किया गया । हरियाली अमावस्या होने से जहां जिले सहित आसपास से सेकड़ों भक्त पशुपतिनाथ जी मंदिर भगवान के दर्शन के लिए पहुंचे जहां कोविड गाइडलाइन का पालन करते हुवे भक्तों को मंदिर में प्रवेश दिया गया।सांसद ने महादेव मंदिर में किया अभिषेक   रामघाट प्रतापगढ़ रोड़ स्थित चमत्कारिक श्री उत्तरमुखी बालाजी श्री रामेश्वर महादेव मंदिर पर हरियाली अमावस पर्व धूमधाम से मनाया गया। इस दौरान मंदिर में आकर्षक साज सज्जा की गई तथा भगवान का नयनाभिराम श्रृंगार किया। अभिषेक, पूजन आरती के साथ ही प्रसाद वितरण किया गया। हरियाली अमावस पावन अवसर पर सांसद सुधीर गुप्ता ने भी उपस्थित होकर भगवान श्री रामेश्वर महादेव का अभिषेक कर आशीर्वाद प्राप्त किया।  

Dakhal News

Dakhal News 8 August 2021


bhopal, 10 new cases found , 24 hours state, 80 infected,five days

भोपाल। मध्यप्रदेश में बीते 24 घंटों में 6 जिलों में कोरोना संक्रमण के 10 नए मामले सामने आए हैं। सबसे ज्यादा भोपाल में 3 संक्रमित मिले जबकि जबलपुर-इंदौर में 2-2, दमोह, खरगोन और विदिशा में 1-1 पॉजिटिव केस आए हैं। पिछले 5 दिनों में प्रदेश के 17 जिलों में 80 संक्रमित मिले हैं। इनमें सबसे ज्यादा संक्रमित दमोह में 22 मिले हैं। प्रदेश में कोरोना के मामले भले ही कम मिल रहे हों, लेकिन संक्रमण की जद में नए-नए जिले आने से चिंता बढ़ते जा रही है। प्रदेश में पिछले 5 दिनों में 17 जिलों में संक्रमण के नए मामले सामने आए है। इसमें सबसे ज्यादा संक्रमित दमोह में 22, इंदौर में 10, भोपाल, जबलपुर, होशंगाबाद में 9 कोरोना संक्रमित मिल चुके हैं। इसके अलावा सागर में 5, धार में 3, छतरपुर, टीकमगढ़, राजगढ़ में 2-2 केस और सिवनी, मंदसौर, ग्वालियर, कटनी, डिंडोरी, खरगोन, विदिशा में 1-1 केस मिला है। चिंता की वजह प्रदेश की आर वेल्यू चेन्नई के इंस्टीट्यूट ऑफ मैथमैटिकल साइंस द्वारा हाल में जारी रिपोर्ट में प्रदेश की आर वेल्यू 1.31 बताई है, जो नेशनल एवरेज से भी ज्यादा है। विशेषज्ञों ने आर वेल्यू के बढ़ने को चिंताजनक बताया है। डेटा साइंटिस्ट्स के मुताबिक आर फैक्टर यह बताता है कि एक संक्रमित से कितने लोग संक्रमित हो रहे हैं।  

Dakhal News

Dakhal News 8 August 2021


bhopal, Sheopur collector , accused of negligence, SP and CMO removed

भोपाल। मध्यप्रदेश के श्योपुर जिले में बाढ़ ने कहर बरपाया है। इस दौरान राहत और बचाव कार्य के साथ अधिकारियों की लापरवाही भी सामने आ रही है। बाढ़ राहत कार्य में लापरवाही बरतने वाले श्योपुर कलेक्टर को तत्काल प्रभाव से राकेश श्रीवास्तव हटा दिया गया है। उनके जगह ग्वालियर नगर निगम आयुक्त शिवम वर्मा को श्योपुर का नया कलेक्टर बनाया है। इसके आलवा जिले में सीएमओ मिनी अग्रवाल को हटाया गया है। आयुक्त नगरीय प्रशासन निकुंज श्रीवास्तव ने मोर्चा संभाला है। दूसरी ओर इस कार्रवाई से अफसरों में हडक़ंप मच गया है। श्योपुर कलेक्टर राकेश कुमार श्रीवास्तव को हटा दिया गया है। अब उनके स्थान पर ग्वालियर नगर निगम आयुक्त शिवम वर्मा को नया कलेक्टर बनाया गया है, जो अब से श्योपुर जिले की कमान संभालेंगे। उनके खिलाफ यह कार्यवाही बाढ़ राहत कार्य में बड़ी लापरवाही बरतने के कारण हुई है। बता दें कि बीते रोज जब लोगों ने केंद्रीय मंत्री के वाहन पर कीचड़ फेंका तो मामले की गंभीरता समझ आई। इसके बाद श्योपुर में तबादलों की बाढ़ आ गई है। पहले श्योपुर कलेक्टर राकेश कुमार श्रीवास्तव फिर एसपी सम्पत उपाध्याय और अब सीएमओ मिनी अग्रवाल को हटाने के आदेश जारी कर दिए गए हैं। उनकी जगह ग्वालियर नगर निगम आयुक्त शिवम वर्मा को श्योपुर का कलेक्टर बनाया गया है। वहीं अनुराग सुजानिया नए पुलिस अधीक्षक होंगे।

Dakhal News

Dakhal News 8 August 2021


rajgarh, Women policemen, delivery of a pregnant woman,trapped in the rain

राजगढ़। जिले के सुठालिया क्षेत्र में अतिबारिश होने की वजह से नदी-नाले उफान पर आ गए, जिससे अस्पताल जाने का रास्ता अवरुद्ध हो गया। ऐसे में मोठबड़ली निवासी प्रसूता महिला गुरुवार को बारिश में फंस गई, पीड़ा अधिक होने पर सुठालिया थाना में पदस्थ महिला सब इंस्पेक्टर और महिला पुलिसकर्मी द्वारा स्टाफ नर्स की मदद से आटो में ही महिला का प्रसव कराया गया, प्रसूति के बाद महिला और बच्चा दोनों ही स्वस्थ है। इस प्रकार पुलिस का मानवीय चेहरा सामने आया। थाना प्रभारी रामकुमार रघुवंशी ने बताया कि मोठबड़ली निवासी अखिलेश बाई को प्रसव पीड़ा होने पर परिजन अस्पताल लेकर जा रहे थे, लेकिन परलापुरा पुल पर अधिक पानी होने की वजह से वह महिला को अस्पताल नही ले जा सके। जानकारी मिलने पर महिला उपनिरीक्षक अरुंधति राजावत और महिला आरक्षक इतिश्री राठौर प्रसूता को आटो में बैठाकर ले जा रही थी तभी थाना के समीप महिला को अधिक पीड़ा होने लगी, महिला पुलिसकर्मियों ने स्टाफ नर्स की मदद से आटो में ही महिला का प्रसव कराया। गर्भवती महिला ने स्वस्थ बालक को जन्म दिया, प्रसूति के बाद बच्चा और जच्चा दोनों ही स्वस्थ है। बारिश रुकने के बाद महिला को सामुदायिक अस्पताल में शिफ्ट कराया गया है। बारिश में फंसी प्रसूता की मदद करने पर पुलिस का मानवीय चेहरा सामने आया है, वहीं महिला पुलिसकर्मियों की सोशल मीडिया पर प्रशंसा की जा रही है।

Dakhal News

Dakhal News 5 August 2021


bhopal,MP Repair work ,flood damaged ,power system

भोपाल। प्रदेश के श्योपुर और शिवपुरी जिलों में विद्युत आपूर्ति के लिए स्थापित विद्युत प्रणाली जैसे एलटी/एचटी लाईन, ट्रांसफार्मर, उपकेन्द्र, खंभे आदि पिछले दिनों से हो रही अत्यधिक बारिश एवं बाढ से क्षतिग्रस्त हो गए हैं। मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी ने लगभग 20 करोड़ से अधिक की विद्युत प्रणाली के क्षतिग्रस्त होने का प्रारंभिक अनुमान लगाया है। जनसंपर्क अधिकारी राजेश पाण्डेय ने गुरुवार को जानकारी देते हुए बताया कि ग्वालियर संभाग के शिवपुरी जिले की शिवपुरी तहसील में एक करोड़ 25 लाख, पोहरी में एक करोड़ 11 लाख, बैराड एक करोड़ 60 लाख, कोलारस में 78 लाख, बदरवास में एक करोड़ 62 लाख, करैरा में एक करोड़ 15 लाख, नरवर में 2 करोड़, पिछोर में 62 लाख एवं खनियाधाना तहसील में एक करोड़ 5 लाख के नुकसान का आंकलन किया गया है। इसी प्रकार चंबल संभाग के श्योपुर जिले की श्योपुर तहसील में 3 करोड़ 77 लाख, बड़ौदा में 2 करोड़ 68 लाख, कराहल में एक करोड़ 51 लाख, विजयपुर में 92 लाख, एवं वीरपुर तहसील में 29 लाख के नुकसान का आकलन किया गया है। मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी द्वारा अत्यधिक बारिश एवं बाढ़ग्रस्त क्षेत्रों में पहुंच से दूर होने के कारण प्रारंभिक अनुमान के आधार पर नुकसान का आंकलन किया जाकर सुधार कार्य हेतु सघन प्रयास प्रारंभ कर दिये हैं। बाढ़ की स्थिति में सुधार के बाद ही वास्तविक क्षति का आंकलन किया जा सकेगा।  

Dakhal News

Dakhal News 5 August 2021


anuppur, Stream of Narmada, reaches to worship, Lord Shiva

अनूपपुर। मैकल की पहाडिय़ों में स्थित अमरकंटक धार्मिक नगरी के रूप में जाना जाता हैं। मां नर्मदा की उद्गम स्थली के कारण अमरकंटक की विशेष ख्याति है। इसके साथ साथ यह स्थान भगवान शिव की भी तपोस्थली माना जाता है। नर्मदा मंदिर, सोनमूडा, माई की बगिया सहित जालेश्वर धाम के साथ साथ नर्मदा मंदिर से सटे पातालेश्वर शिवलिंग मंदिर से भी लोगों की आस्था जुड़ी है। नर्मदा मंदिर पुजारी धनेश द्विवेदी (वंदे महाराज) बताते हैं कि पातालेश्वर महादेव का मंदिर नाम के अनुरूप ही पाताल यानी जमीन के अंदर ही स्थित है। मंदिर का शिवलिंग पृथ्वी की सतह से लगभग 10 फीट की गहराई पर स्थापित किया गया है। मान्यता है कि पातालेश्वर शिवलिंग की जलहरी में प्रतिवर्ष श्रावण माह के एक सोमवार को मां नर्मदा यहां भगवान शिव को अभिषेक कराने पहुंचती हैं। अमरकंटक से ही नर्मदा नदी की उत्पत्ति हुई है। अमरकंटक भगवान शिव की तपस्थली भी है और मां नर्मदा को भगवान शिव की पुत्री के रूप में मान्य किया गया है। पुराणों में यह भी उल्लेख है कि भगवान शिव माता पार्वती के साथ यहीं रुके थे। नर्मदा मंदिर से दक्षिण दिशा की ओर लगभग 100 मीटर की दूरी पर कलचुरी कालीन पातालेश्वर महादेव शिव-विष्णु जोहिला कर्ण मंदिर और पंच मठ मंदिरों का समूह है। इन मंदिरों का निर्माण 10-11वीं शताब्दी में कलचुरी महाराजा नरेश कर्ण देव ने 1041-1073 के दौरान बनवाया था। जनश्रुति के अनुसार इस मंदिर की स्थापना आद्य गुरु शंकराचार्य ने की थी। पातालेश्वर महादेव का मंदिर विशिष्ट प्रकार से पंचरथ शैली में बना है। 16 स्तंभों में आधार वाले मंडप सहित यह मंदिर निर्मित किया गया है। भूमिज शैली के पातालेश्वर महादेव मंदिर कई सदी पुराना होने से साधना स्थल के रूप में भी विख्यात है। माना जाता है कि इस शिव मंदिर में शिव साधना फलदायी होती ही है।  

Dakhal News

Dakhal News 5 August 2021


mandsour, second Monday of Sawan, influx of devotees continued

मन्दसौर। सावन मास के दूसरे सोमवार को मंदसौर में सुबह से ही दर्शन के लिए भीड़ जुट गई। भगवान पशुपतिनाथ महादेव मंदिर पर दिनभर दर्शन करने के लिए भोले के भक्तों का तांता लगा हुआ रहा। शिवना नदी के किनारे स्थित भगवान पशुपतिनाथ महादेव के दर्शन करने को श्रद्धालुओं में उत्साह देखा गया, पशुपतिनाथ मंदिर पर जमकर ढोल नगाड़े बजे, वहीं हर हर महादेव और ओम नमः शिवाय के मंत्रों से पूरा मंदिर परिसर गूंज उठा। भगवान पशुपतिनाथ महादेव मंदसौर की अष्ट मुखी प्रतिमा पूरे विश्व में दुर्लभ है जो केवल मंदसौर में ही मौजूद है। नेपाल में जो पशुपतिनाथ महादेव हैं वह चार मुखी हैं जबकि मंदसौर में स्थित भगवान पशुपतिनाथ की प्रतिमा अष्टमुखी है। सावन के दूसरे सोमवार को भगवान श्री पशुपतिनाथ महादेव मंदिर सहित जिलेभर के शिवालयों में उत्साह छाया रहा। सीतामऊ के कोटेश्वर महादेव, गंगेश्वर महादेव, भानपुरा स्थित छोटा बडा महादेव में भी श्रद्धालुओं की भीड़ देखने को मिली। वही पशुपतिनाथ मंदिर में कोरोना गाइडलाइंस का पालन करते हुए भक्तों ने गर्भगृह के बाहर से ही दर्शन किए। दिनभर मंदिर के बाहर तक दर्शनार्थियों की कतारें लगी रही। मंदिर पर सुरक्षा व्यवस्था के पुलिस जवान भी तैनात रहे। पशुपतिनाथ मंदिर पर सोमवार को अधिक भक्तों के आगमन एवं कोरोना महामारी को देखते हुए पुलिस प्रशासन भी मुस्तैद रहा। रिमझिम बारिश के बीच श्रद्धालुओं का यहां पहुंचना जारी रहा देर शाम तक भक्त यहा दर्शन करने पहुच रहे थे। पशुपतिनाथ मंदिर पर सुबह से शाम तक हजारों श्रद्धालुओं ने दर्शन किए।

Dakhal News

Dakhal News 2 August 2021


morena, Babu of CMHO office ,caught by Lokayukta ,taking bribe

मुरैना। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी कार्यालय में पदस्थ एक बाबू सोमवार को पांच हजार रुपये की रिश्वत लेते हुए लोकायुक्त पुलिस ने रंगे हाथों पकड़ लिया। बाबू ने एक पैथोलॉजी के पंजीयन के नवीनीकरण के लिए रिश्वत की मांग की थी। जिसकी शिकायत लोकायुक्त ग्वालियर को की गई थी।मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी कार्यालय में पदस्थ बाबू पंकज जैन आज दोपहर के समय एक पैथोलॉजी के पंजीयन के नवीनीकरण के लिए पांच हजार रुपये की रिश्वत ले रहा था। जैसे ही पंकज जैन ने रिश्वत के पांच हजार रुपये लिए वैसे ही वहां लोकायुक्त पुलिस ने दबिश दे दी। लोकायुक्त पुलिस को देख बाबू पंकज जैन घबरा गया और उसने रिश्वत में लिए पैसे इधर उधर करने का प्रयास किया। लेकिन पुलिस की मौजूदगी की वजह से वह ऐसा नहीं कर पाया। लोकायुक्त पुलिस ने बाबू पंकज जैन के हाथ जब कैमिकल से धुलवाए तो उसके हाथ लाल हो गए। लोकायुक्त पुलिस ने पंकज जैन से रिश्वत में लिए गए पांच हजार रुपये जप्त कर उसके खिलाफ मामला कायम किया।बताया जाता है कि रिश्वत लेते पकड़ा गए बाबू पंकज जैन की शिकायत कुछ दिन पूर्व लोकायुक्त पुलिस को की गई थी। यह शिकायत फाटक बाहर क्षेत्र में स्थित अपैक्स पैथोलॉजी लेब के संचालक रमेश ने की थी। रमेश से पंकज जैन ने दस हजार रुपये मांगे थे। लेकिन सौदा पांच हजार रुपये में तय हुआ था। रिश्वत मांगने की मोबाइल में रिकॉर्डिंग रमेश ने कर ली थी। इस रिकॉडिंग को लोकायुक्त पुलिस को सुनवाई गई। तत्पश्चात बाबू पंकज जैन के खिलाफ लोकायुक्त पुलिस ने मामला दर्ज किया और आज यहां दबिश दे दी।

Dakhal News

Dakhal News 2 August 2021


bhopal,Heavy rains ,disrupted life in MP, Sheopur district, island

भोपाल। मध्यप्रदेश में बीते तीन-चार दिन से लगातार बारिश हो रही है। कुछ हिस्सों में जहां रिमझिम फुहारे गिर रही है तो कुछ हिस्सों में जोरदार बारिश से जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। प्रदेश में बारिश की वजह से कुछ इलाकों में बाढ़ के हालत बने हुए हैं। श्योपुर जिला तो पूरी तरह टापू बन गया है। यहां पार्वती, कूनो, क्वारी और सीप नदी उफान पर हैं और नदियों के पुलों के ऊपर से पानी बह रहा है। इसकी वजह से श्योपुर का राजस्थान से संपर्क पूरी तरह कट चुका है। राजधानी भोपाल में रविवार को रातभर जोरदार बारिश हुई और सोमवार को भी सुबह से ही रिमझिम बारिश का दौर जारी है। यही हाल प्रदेश के अन्य नगरों और जिलों का है। चम्बल क्षेत्र में बीते तीन दिनों से तेज बारिश हो रही है, जिससे नदियां उफान पर हैं। श्योपुर जिले में बाढ़ के हालात हैं। यहां के विजयपुर नगर में क्वारी नदी ने रौद्र रूप धारण कर लिया है और श्योपुर में कूनो नदी का पानी पुल से 10-15 फीट ऊपर से बह रहा है। श्योपुर जिले में बारिश का पानी लोगों के घरों में घुस गया है। क्वारी नदी से सटे सायपुरा, पीपलबाड़ी, अर्रोद क्षेत्र में भी प्रशासन ने अलर्ट जारी कर दिया है। यहां पर भी पानी का खतरा मंडरा रहा है। विजयपुर एसडीएम नीरज कुमार शर्मा ने बताया कि अलर्ट जारी करने के साथ ही गांवों में मुनादी भी करवाई जा रही है। जिले के कई गावों में बाढ़ की स्थिति है। बाढ़ की वजह से काफी नुकसान भी हुआ है।श्योपुर जिले में पार्वती, कूनो, क्वारी और सीप नदियां उफान पर हैं। जिले के कराहल, विजयपुर, श्योपुर और बड़ौदा में पानी भर गया है। श्योपुर का राजस्थान से संपर्क कट गया है। विजयपुर में बाढ़ का पानी घुसने से कोठारी पैलेस और आसपास के घरों में 30 लोग फंस गए। उन्हें रेस्क्यू करके दो घंटे बाद निकाला गया।वहीं, गुना जिले में 24 घंटों में 106 मिमी बारिश दर्ज की गई है। बमोरी इलाके में पार्वती, सिंध और कूनो नदी उफान पर हैं। लगभग 150 गांव का संपर्क शहर और कस्बों से कट गया है। ढीमरपुरा के रास्ते में नदी उफान पर होने से प्रशासनिक मदद नहीं पहुंच पाई है। विशनवाड़ा क्षेत्र का संपर्क भी टूट गया है। इस इलाके में 8 गांव के लोग घरों में कैद हो गए हैं। राजस्थान जाने का रास्ता बंद हो गया है। वहीं, शहर से 12 किमी दूर नयागांव में रविवार रात कच्चे मकान की दीवार गिर गई। इसमें दबकर गोपाल लोधा के साढ़े तीन वर्षीय बेटे नक्श की मौत हो गई।बाढ़ के पानी में बच्चा डूबाभिंड जिले में बारिश की वजह सिंध नदी उफान पर है। लहालौरी गांव के किनारे सिंध नदी के ऊपरी बीहड़ में बने बांध में बारिश का पानी भर गया। बांध में गांव के कुछ बालक रविवार शाम को नहाने के लिए गए थे। इसमें पांच वर्षीय रोहित गहरे पानी में चला गया और डूबने से उसकी मौत हो गई। सोमवार को सुबह उसका शव बरामद हुआ।इधर छतरपुर जिले में भी लगातार बारिश हो रही है। चंदला के ग्राम पंचायत बंजारी और भगौरा में पानी भर जाने की वजह से स्थिति खराब हो गई है। दोनों गांवों का संपर्क जिला मुख्यालय से कट गया है। बंजारी में बने शासकीय हाई स्कूल परिसर में पानी भर गया। चंदला को जोड़ने वाले मार्ग पर 2 मीटर पानी भर गया है।

Dakhal News

Dakhal News 2 August 2021


bhopal,Heavy rains ,disrupted life in MP, Sheopur district, island

भोपाल। मध्यप्रदेश में बीते तीन-चार दिन से लगातार बारिश हो रही है। कुछ हिस्सों में जहां रिमझिम फुहारे गिर रही है तो कुछ हिस्सों में जोरदार बारिश से जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। प्रदेश में बारिश की वजह से कुछ इलाकों में बाढ़ के हालत बने हुए हैं। श्योपुर जिला तो पूरी तरह टापू बन गया है। यहां पार्वती, कूनो, क्वारी और सीप नदी उफान पर हैं और नदियों के पुलों के ऊपर से पानी बह रहा है। इसकी वजह से श्योपुर का राजस्थान से संपर्क पूरी तरह कट चुका है। राजधानी भोपाल में रविवार को रातभर जोरदार बारिश हुई और सोमवार को भी सुबह से ही रिमझिम बारिश का दौर जारी है। यही हाल प्रदेश के अन्य नगरों और जिलों का है। चम्बल क्षेत्र में बीते तीन दिनों से तेज बारिश हो रही है, जिससे नदियां उफान पर हैं। श्योपुर जिले में बाढ़ के हालात हैं। यहां के विजयपुर नगर में क्वारी नदी ने रौद्र रूप धारण कर लिया है और श्योपुर में कूनो नदी का पानी पुल से 10-15 फीट ऊपर से बह रहा है। श्योपुर जिले में बारिश का पानी लोगों के घरों में घुस गया है। क्वारी नदी से सटे सायपुरा, पीपलबाड़ी, अर्रोद क्षेत्र में भी प्रशासन ने अलर्ट जारी कर दिया है। यहां पर भी पानी का खतरा मंडरा रहा है। विजयपुर एसडीएम नीरज कुमार शर्मा ने बताया कि अलर्ट जारी करने के साथ ही गांवों में मुनादी भी करवाई जा रही है। जिले के कई गावों में बाढ़ की स्थिति है। बाढ़ की वजह से काफी नुकसान भी हुआ है।श्योपुर जिले में पार्वती, कूनो, क्वारी और सीप नदियां उफान पर हैं। जिले के कराहल, विजयपुर, श्योपुर और बड़ौदा में पानी भर गया है। श्योपुर का राजस्थान से संपर्क कट गया है। विजयपुर में बाढ़ का पानी घुसने से कोठारी पैलेस और आसपास के घरों में 30 लोग फंस गए। उन्हें रेस्क्यू करके दो घंटे बाद निकाला गया।वहीं, गुना जिले में 24 घंटों में 106 मिमी बारिश दर्ज की गई है। बमोरी इलाके में पार्वती, सिंध और कूनो नदी उफान पर हैं। लगभग 150 गांव का संपर्क शहर और कस्बों से कट गया है। ढीमरपुरा के रास्ते में नदी उफान पर होने से प्रशासनिक मदद नहीं पहुंच पाई है। विशनवाड़ा क्षेत्र का संपर्क भी टूट गया है। इस इलाके में 8 गांव के लोग घरों में कैद हो गए हैं। राजस्थान जाने का रास्ता बंद हो गया है। वहीं, शहर से 12 किमी दूर नयागांव में रविवार रात कच्चे मकान की दीवार गिर गई। इसमें दबकर गोपाल लोधा के साढ़े तीन वर्षीय बेटे नक्श की मौत हो गई।बाढ़ के पानी में बच्चा डूबाभिंड जिले में बारिश की वजह सिंध नदी उफान पर है। लहालौरी गांव के किनारे सिंध नदी के ऊपरी बीहड़ में बने बांध में बारिश का पानी भर गया। बांध में गांव के कुछ बालक रविवार शाम को नहाने के लिए गए थे। इसमें पांच वर्षीय रोहित गहरे पानी में चला गया और डूबने से उसकी मौत हो गई। सोमवार को सुबह उसका शव बरामद हुआ।इधर छतरपुर जिले में भी लगातार बारिश हो रही है। चंदला के ग्राम पंचायत बंजारी और भगौरा में पानी भर जाने की वजह से स्थिति खराब हो गई है। दोनों गांवों का संपर्क जिला मुख्यालय से कट गया है। बंजारी में बने शासकीय हाई स्कूल परिसर में पानी भर गया। चंदला को जोड़ने वाले मार्ग पर 2 मीटर पानी भर गया है।

Dakhal News

Dakhal News 2 August 2021


bhopal, Executive Engineer suspended , negligence in court case

भोपाल। राज्य शासन ने उच्च न्यायालय के आदेश के पालन में लापरवाही बरतने पर भिंड के तत्कालीन कार्यपालन यंत्री लोक निर्माण विभाग केके शर्मा को निलंबित कर दिया है। इसी मामले में ग्वालियर क्षेत्र के चीफ इंजीनियर के खिलाफ भी अनुशासनात्मक कार्यवाही करते हुए तीन इंक्रीमेंट रोकने के लिए शो कॉज नोटिस जारी किया गया है।जनसम्पर्क अधिकारी अनिल वशिष्ठ ने गुरुवार को बताया कि निलंबन आदेश में कहा गया है कि उच्च न्यायालय की ग्वालियर खंडपीठ में प्रचलित एक अवमानना प्रकरण में भिंड के तत्कालीन कार्यपालन यंत्री लोक निर्माण केके शर्मा पेशी के दिन समक्ष में मौजूद थे। उच्च न्यायालय द्वारा यह आदेशित किया गया था कि प्रकरण में सात दिवस में याचिकाकर्ता के स्वत्वों का भुगतान नियमानुसार किया जाए और 22 जुलाई 2021 तक यदि भुगतान न हो पाए तो प्रमुख सचिव लोक निर्माण विभाग व्यक्तिगत रूप से उपस्थित रहेंगे।कार्यपालन यंत्री (प्रभारी) शर्मा द्वारा न तो सात दिवस में भुगतान के लिए निर्णायक कार्रवाई की गई और न ही प्रमुख सचिव को उच्च न्यायालय के उक्त आदेश के संबंध में अवगत कराया गया। इस घोर लापरवाही के कारण उच्च न्यायालय के समक्ष अप्रिय स्थिति उत्पन्न हुई और न्यायालयीन आदेश का पालन भी पूर्ण नहीं हो पाया। ऐसी स्थिति में कर्त्तव्य के प्रति लापरवाही बरतने के कारण कार्यपालन यंत्री को तत्काल प्रभाव से निलंबित किया गया है।ग्वालियर क्षेत्र के मुख्य अभियंता आरएल भारती के विरुद्ध भी इसी मामले में लापरवाही बरतने के आरोप में अनुशासनात्मक कार्रवाई की जा रही है। मुख्य अभियंता को शो-कॉज नोटिस जारी करते हुए कहा गया है कि क्यों न आपकी आगामी 3 वेतन वृद्धि असंचयी प्रभाव से रोकने की शास्ति से आपको दंडित किया जाए? लोक निर्माण विभाग के प्रमुख सचिव नीरज मंडलोई ने विभाग के सभी अधिकारियों को सख्त निर्देश जारी किए हैं कि वे न्यायालयीन प्रकरणों में जरा भी लापरवाही न बरते। इस प्रकार की किसी भी लापरवाही को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।  

Dakhal News

Dakhal News 29 July 2021


vidisha, Police got information ,about robbers, Chhapra-Mumbai Express

विदिशा। बीती रात पुलिस को छपरा-मुंबई एक्सप्रेस में हथियारबंद लुटेरों के होने की सूचना मिली। इस सूचना के आधार पर विदिशा में ट्रेन को रोककर उसकी तलाश ली गई। लुटेरों के नहीं मिलने पर कड़ी सुरक्षा के बीच ट्रेन को भोपाल रवाना किया गया। पुलिस सूत्रों ने बताया कि भोपाल स्थित कंट्रोल रूम से बुधवार रात विदिशा पुलिस को सूचना मिली थी कि कुछ हथियारबंद लुटेरे छपरा-मुंबई एक्सप्रेस में चढ़े हैं, जो लूटपाट कर सकते हैं और यात्रियों को हानि पहुंचा सकते हैं। इसके बाद रात में छपरा से मुंबई जा रही इस ट्रेन को विदिशा में रोका गया। इसके साथ ही एडीशनल एसपी संजय साहू ने आरपीएफ, जीआरपी और विदिशा पुलिस बल के जवानों के साथ पूरी ट्रेन को घेर लिया और उसकी तलाशी ली गई। इसके साथ ही यात्रियों से भी संदिग्ध व्यक्तियों के बारे में जानकारी ली गई। तलाशी के दौरान ट्रेन में लुटेरे नहीं मिले और ट्रेन को पूरी सुरक्षा के बीच भोपाल रवाना किया गया।  

Dakhal News

Dakhal News 29 July 2021


bhopal, process of drizzling ,continues in MP, thunderstorms from Saturday

भोपाल। मध्य प्रदेश में रुक रुककर बौछारे पडऩे का सिलसिला जारी है। राजधानी भोपाल में गुरुवार सुबह से आसमान में बादल छाए रहे लेकिन बारिश नहीं हुई। हालांकि दोपहर बाद हल्की रिमझिम फुहारें गिरी, जिससे मौसम में पूरी तरह से ठंडक घुल गई है। मौसम विभाग के अनुसार अरब सागर और बंगाल की खाड़ी से लगातार आ रही नमी के कारण कहीं-कहीं गरज-चमक के साथ बौछारें पड़ती रहेंगी। उधर बंगाल की खाड़ी में बने गहरे कम दबाव के क्षेत्र के शुक्रवार से आगे बढऩे की संभावना है। इससे शनिवार से प्रदेश में एक बार फिर कहीं-कहीं तेज बौछारें पडऩे का सिलसिला शुरू होने की संभावना है। इस दौरान पूर्वी मप्र में कहीं-कहीं भारी वर्षा भी हो सकती है। वरिष्ठ मौसम वैज्ञानिक पीके साहा ने जानकारी देते हुए बताया कि बंगाल की खाड़ी में बना गहरा कम दबाव का क्षेत्र शुक्रवार को आगे बढऩे लगेगा। मानसून ट्रफ भी अभी सामान्य स्तिति में है ऑर उत्तरप्रदेश से होकर गुजर रहा है। उत्तरी पाकिस्तान से अरब सागर तक एक ट्रफ बना हुआ है। इसके अतिरिक्त दक्षिणी गुजरात से उत्तरी केरल तट तक एक अपतटीय ट्रफ बना हुआ है। इस वजह से हवाओं के साथ लगातार नमी आने का सिलसिला बना हुआ है। शुक्रवार को सिस्टम के आगे बढऩे से मप्र में बारिश की गतिविधियों में तेजी आने लगेगी। इस दौरान जबलपुर, रीवा, शहडोल, सागर संभाग के जिलों में कहीं-कहीं भारी बारिश भी हो सकती है।

Dakhal News

Dakhal News 29 July 2021


Gwalior, The rain of Sawan, continued throughout

ग्वालियर। मूसलाधार बारिश के लिए विख्यात आषाढ़ माह ने इस बार ग्वालियर-चम्बल वासियों को भले ही निराश किया हो, लेकिन श्रावण माह के दूसरे दिन से ही बारिश का सिलसिला जारी है। इसी क्रम में बुधवार को बिना रुके दिन भर बारिश की झड़ी लगी रही। इस दौरान कभी मध्यम गति से बारिश हुई तो कभी बादल मनोहारी फुहारों के रूप में बरसते रहे। मौसम विज्ञानियों का पूर्वानुमान है कि बंगाल की खाड़ी में बने एक और कम दबाव के क्षेत्र के प्रभाव से अगले एक सप्ताह तक इसी प्रकार बारिश की झड़ी लगी रहेगी।बुधवार को सुबह करीब पौने दस बजे से बूंदाबांदी शुरू हुई। धीरे-धीरे बूंदों ने रफ्तार कपड़ी तो फिर रुकने का नाम नहीं लिया। दोपहर करीब डेढ़ बजे तक एक ही रफ्तार में मध्यम गति से बारिश होती रही। इसके बाद बिना रुके आसमान से दिन भर फुहारों के रूप में पानी बरसता रहा। इसके चलते शहर के सड़क मार्गों और बाजारों में अघोषित कफ्र्यू लगा नजर आया। इस दौरान सड़कों पर केवल टैम्पो, टैक्सी और चार पहिया वाहन की आते-जाते दिखे। स्थानीय मौसम केन्द्र के अनुसार बंगाल की उत्तरी खाड़ी में बना कम दबाव का क्षेत्र और अधिक प्रभावी होकर उत्तर-पश्चिम की ओर बढ़ रहा है। इसके अलावा एक चक्रवात उत्तर प्रदेश के मध्य भाग में तो दूसरा चक्रवात पंजाब और उससे सटे पाकिस्तान के आसपास बना हुआ है। साथ ही हवाएं दक्षिण-पश्चिम से आ रही हैं। इससे बंगाल की खाड़ी के अलावा अरब सागर से भी व्यापक नमी आ रही है। इसके चलते आगामी चार अगस्त तक बारिश का सिलसिला जारी रहने की संभावना है। इस दौरान अंचल में एक व दो अगस्त को जोरदार बारिश भी हो सकती है। मौसम विभाग के अनुसार आज शाम 5.30 बजे तक शहर में 23 मिली मीटर बारिश दर्ज की गई। इसे मिलाकर शहर में अब तक कुल 278.5 मिली मीटर बारिश दर्ज हो चुकी है। दिन और रात के तापमान में सिर्फ दो डिग्री का अंतर: बीते सोमवार को शहर में अधिकतम तापमान 37.3 डिग्री सेल्सियस पर पहुंच गया था, लेकिन सोमवार शाम से बारिश का सिलसिला शुरू हो जाने के बाद दिन के तापमान में जबरदस्त गिरावट दर्ज की गई है। बुधवार को दिन भर बारिश की झड़ी लगी रहने से सूरज के एक बार भी दर्शन नहीं हुए, जिससे मौसम काफी डंडा हो गया है। इसके चलते दिन व रात के तापमान में मात्र 2.2 डिग्री सेल्सियस का ही अंतर रह गया। स्थानीय मौसम विज्ञान केन्द्र के अनुसार पिछले दिन की तुलना में बुधवार को अधिकतम तापमान 1.7 डिग्री सेल्सियस गिरावट के साथ 27.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, जो औसत से 5.7 डिग्री सेल्सियस कम है। न्यूनतम तापमान भी 0.6 डिग्री सेल्सियस आंशिक गिरावट के साथ 25.0 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। यह भी औसत से 0.7 डिग्री सेल्सियस कम है। आज हवाएं दक्षिण-पश्चिमी चलीं, जिनकी गति चार लगभग किलो मीटर प्रति घंटा रही। आज सुबह हवा में नमी 83 प्रतिशत दर्ज की गई, जो औसत से चार प्रतिशत अधिक है, जबकि शाम को हवा में नमी 95 प्रतिशत दर्ज की गई, जो औसत से 23 प्रतिशत अधिक है।

Dakhal News

Dakhal News 28 July 2021


bhopal, Madhya Pradesh, may get Tiger State ,status again

भोपाल। मध्यप्रदेश के पास टाइगर स्टेट का गौरवशाली ताज है। दरअसल, अखिल भारतीय स्तर पर तीन साल पहले हुई बाघ गणना में 526 बाघों के साथ पहले स्थान पर रहते मध्यप्रदेश को टाइगर स्टेट का दर्जा मिला था। इस साल होने वाली गणना के प्रारम्भिक संकेतों के अनुसार इस बार भी मध्यप्रदेश को टाइगर स्टेट के रूप में मान्यता मिलने की संभावना है।जनसम्पर्क अधिकारी ऋषभ जैन ने बताया कि वर्ष 2010 और 2014 की गणना में कनार्टक में सर्वाधिक बाघों की संख्या थी। इसके अलावा पिछले दशक में जितनी भी गणना हुई, उसमें मध्यप्रदेश के पास ही सर्वाधिक बाघों की संख्या के साथ टाइगर स्टेट का दर्जा रहा है।कई नवाचारों की बदौलत मिला यह मुकाम   उन्होंने बताया कि प्रदेश सरकार ने वन्य-प्राणी संरक्षण सुनिश्चित करने के लिए कई नवाचारों को लागू किया, जिनकी बदौलत मध्यप्रदेश टाइगर स्टेट की प्रक्रिया का आधार स्तंभ बना। पिछले डेढ़ दशक में बाघों और अन्य वन्य-प्राणियों के लिए आवास क्षेत्र की सुविधा कराने के लिए संरक्षित क्षेत्रों से 167 ग्रामों का मुकम्मबल स्थान पर पुनर्स्थापन कराया गया। दुर्गम वन क्षेत्रों के अंतर्गत न्यूनतम सुविधाओं के साथ रह रही 15 हजार से ज्यादा परिवार इकाइयों को वनों से बाहर लाया जाकर ग्राम-नगरों में बसाया गया। नतीजा यह हुआ कि वन्य-प्राणियों को व्यवधान रहित स्वछंद रूप से रहवास मिल गया। साथ ही वनवासियों की माली हालत में भी सुधार हुआ। इन तमाम नवाचारों में राज्य सरकार ने 900 करोड़ रूपये की राशि उपलब्ध कराई गई।टाइगर रिजर्व के अलावा मौजूद हैं बाघ   प्रदेश के बाघ न केवल टाइगर रिजर्व में है बल्कि अन्य क्षेत्रीय वन मण्डलों अपितु भोपाल जैसे बढ़े शहरों की सीमा में भी अन्य प्राणी की तरह विचरण करते पाए जाते हैं। वर्ष 2018 में पन्ना से बाघों का अस्तिव ही समाप्त हो गया था। वन विभाग द्वारा बाघ संरक्षण के लिए सक्रिय पहल की गई, जिसमें बाघों को अन्य संरक्षित क्षेत्रों से लाकर पन्ना टाइगर रिजर्व में पुनर्स्थापित किया गया। पिछले 9 वर्ष की सतत प्रक्रिया के कारण आज पन्ना टाइगर रिजर्व पुराने वैभव की ओर लौट चुका है। यहाँ 20 से ज्यादा वयस्क बाघ और 15 अवयस्क बाघ/शावक मौजूद हैं। सम्पूर्ण पन्ना लैंड स्केप में शावकों सहित तकरीबन 50 बाघ उपलब्ध हैं।घोरेला मॉडल के रूप में मिली प्रसिद्धि   प्रदेश में वर्ष 2005-06 में बिछड़े अनाथ शावकों को उनके प्राकृतिक रहवास में मुक्त करने की नई पहल की शुरूआत की गई। इससे अनाथ बाघ शावक चिड़िया घर पहुँच जाते थे। उनके वयस्क होते ही प्राकृतिक आवास में मुक्त किया जाना संभव हो सका। कान्हा टाइगर रिजर्व के घोरेला एन्क्लोजर में 9 बाघ शावकों को वयस्क होने पर मुक्त किया जा चुका है। प्रदेश को मिली इस सफलता को पूरी दुनिया में "घोरेला" मॉडल के रूप में प्रसिद्धि मिली है।तीन चरण में ऐसे होती है बाघों की गणना   भारत में बाघों की गणना हरेक 4 साल में की जाती है। इसके तीन चरण निर्धारित हैं। प्रथम चरण में बाघों, अन्य मांसाहारी तथा बड़े शाकाहारी प्राणियों के चिन्ह अर्थात उनके पंजों के निशान, उनकी विष्ठा, खरोंच के निशान और उनके द्वारा किए गए शिकार आदि के आंकड़े एकत्रित किए जाते हैं। इस बाघ ऑकलन को "फेस वन' कहा जाता है। यह प्रक्रिया एक सप्ताह तक चलती है। वन कर्मचारी इन सातों दिन जंगलों में भ्रमण कर वन्य-प्राणियों की उपस्थिति के चिन्ह पहले तीन दिन और अगले तीन दिन वन्य-प्राणियों की प्रत्यक्ष उपस्थिति की संख्या एकत्रित करते हैं।द्वितीय चरण में वैज्ञानिकों द्वारा प्रयोगशालाओं में बाघ आकलन किया जाता है। वैज्ञानिक सेटेलाईट द्वारा एकत्र किए गए आँकड़ो का अध्ययन कर बाघ के रहवास क्षेत्र की स्थिति के बारे में आँकड़ों जुटाते हैं। तीसरे चरण में कैमरा ट्रेपिंग की जाकर बाघों की उपस्थिति के चित्र लिए जाते हैं। इन तीन चरणों में मिले आँकड़े और सबूतों के सांख्यिकी विश्लेषण से किसी क्षेत्र में बाघों की संख्या का आकलन निकाला जाता है।अखिल भारतीय बाघ गणना में सम्पूर्ण भारत में तकरीबन 30 हजार बीटो में गणना कार्य किया जाता है। इसमें 9 हजार बीट केवल मध्यप्रदेश में ही मौजूद हैं। यह एक बहुत श्रम साध्य और व्यापक कार्य है। प्रदेश के वन विभाग ने इस चुनौती को अंगीकार करते हुए वर्ष 2017 से अपनी तैयारियों को अंजाम देना शुरू कर दिया। इसके अंतर्गत वन रक्षकों के कई चरण आयोजित कर उन्हें इसके काबिल बनाया गया। इस तरह दक्षतापूर्ण तरीके से दुष्कर कार्य की गणना कराई जाती है।बाघ है अनोखा वन्य-प्राणी   बाघ सभी को भयभीत करने वाला और शक्तिशाली जन्तु के रूप में जाना जाता है। इसकी दहाड़ और गुर्राहट भयानक के साथ डराने वाली होती है। तीन कि.मी.की रेंज तक इसकी दहाड़ सुनाई देती है। बाघ के पिछले पैर आगे वाले पैरों की तुलना में बढ़े आकार के होते हैं। इससे यह एकबार में 20 से 30 फिट तक की लम्बी छलांग लगा सकता है। बाघ के पैरों का निचला हिस्सा गद्देदारनुमा होता हैं। इस वजह से चुपचाप शिकार के नजदीक तक पहुँच जाता है। बाघ में 60 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से दौड़ने की क्षमता रहती है।बाघ की विशेषता है कि वह समूह में न रहकर अकेला रहने वाला प्राणी है। प्रजनन काल में ही नर और मादा इकट्ठे होते हैं। शावक का जन्म होने के बाद अपनी माँ के साथ डेढ़ से दो साल तक रहकर शिकार करने की कला में पारंगत होता है। बाघ अपना शिकार बड़ी चतुराई और फुर्तीले अंदाज में और ज्यादाकर रात के समय करता है। सर्वविदित है कि यह झाड़ियों में घात लगाकर पीछे से अचानक शिकार पर हमला करता है। शरीर पर बनी धारियों की वजह से आसानी से झाडियों में घुल-मिल जाता है। यह अपने शिकार में गर्दन को निशाना बनाता है।टाइगर रिजर्व क्षेत्रों में उपलब्ध हैं बाघ   प्रदेश का पहला टाइगर रिजर्व 1973 में कान्हा टाइगर बना। अभी प्रदेश में 6 टाइगर रिजर्व हैं। कान्हा, बांधवगढ़, संजय टाइगर रिजर्व, पन्ना, सतपुड़ा और पेंच टाइगर रिजर्व के रूप में मौजूद हैं। इनमें सबसे बड़ा सतपुड़ा टाइगर रिजर्व और सबसे छोटा पेंच टाइगर रिजर्व है।अभयारण्य के रूप में पचमढ़ी, पनपथा, बोरी, पेंच-मोगली, गंगऊ, संजय- दुबरी, बगदरा, सैलाना, गांधी सागर, करेरा, नौरादेही, राष्ट्रीय चम्बल, केन, नरसिहगढ़, रातापानी, सिंघोरी, सिवनी, सरदारपुर, रालामण्डल, केन घड़ियाल, सोन चिड़िया अभयारण्य घाटीगाँव, सोन घड़ियाल अभयारण्य, ओरछा और वीरांगना दुर्गावती अभयारण्य के नाम शामिल हैं।

Dakhal News

Dakhal News 28 July 2021


bhopal, Madhya Pradesh, may get Tiger State ,status again

भोपाल। मध्यप्रदेश के पास टाइगर स्टेट का गौरवशाली ताज है। दरअसल, अखिल भारतीय स्तर पर तीन साल पहले हुई बाघ गणना में 526 बाघों के साथ पहले स्थान पर रहते मध्यप्रदेश को टाइगर स्टेट का दर्जा मिला था। इस साल होने वाली गणना के प्रारम्भिक संकेतों के अनुसार इस बार भी मध्यप्रदेश को टाइगर स्टेट के रूप में मान्यता मिलने की संभावना है।जनसम्पर्क अधिकारी ऋषभ जैन ने बताया कि वर्ष 2010 और 2014 की गणना में कनार्टक में सर्वाधिक बाघों की संख्या थी। इसके अलावा पिछले दशक में जितनी भी गणना हुई, उसमें मध्यप्रदेश के पास ही सर्वाधिक बाघों की संख्या के साथ टाइगर स्टेट का दर्जा रहा है।कई नवाचारों की बदौलत मिला यह मुकाम   उन्होंने बताया कि प्रदेश सरकार ने वन्य-प्राणी संरक्षण सुनिश्चित करने के लिए कई नवाचारों को लागू किया, जिनकी बदौलत मध्यप्रदेश टाइगर स्टेट की प्रक्रिया का आधार स्तंभ बना। पिछले डेढ़ दशक में बाघों और अन्य वन्य-प्राणियों के लिए आवास क्षेत्र की सुविधा कराने के लिए संरक्षित क्षेत्रों से 167 ग्रामों का मुकम्मबल स्थान पर पुनर्स्थापन कराया गया। दुर्गम वन क्षेत्रों के अंतर्गत न्यूनतम सुविधाओं के साथ रह रही 15 हजार से ज्यादा परिवार इकाइयों को वनों से बाहर लाया जाकर ग्राम-नगरों में बसाया गया। नतीजा यह हुआ कि वन्य-प्राणियों को व्यवधान रहित स्वछंद रूप से रहवास मिल गया। साथ ही वनवासियों की माली हालत में भी सुधार हुआ। इन तमाम नवाचारों में राज्य सरकार ने 900 करोड़ रूपये की राशि उपलब्ध कराई गई।टाइगर रिजर्व के अलावा मौजूद हैं बाघ   प्रदेश के बाघ न केवल टाइगर रिजर्व में है बल्कि अन्य क्षेत्रीय वन मण्डलों अपितु भोपाल जैसे बढ़े शहरों की सीमा में भी अन्य प्राणी की तरह विचरण करते पाए जाते हैं। वर्ष 2018 में पन्ना से बाघों का अस्तिव ही समाप्त हो गया था। वन विभाग द्वारा बाघ संरक्षण के लिए सक्रिय पहल की गई, जिसमें बाघों को अन्य संरक्षित क्षेत्रों से लाकर पन्ना टाइगर रिजर्व में पुनर्स्थापित किया गया। पिछले 9 वर्ष की सतत प्रक्रिया के कारण आज पन्ना टाइगर रिजर्व पुराने वैभव की ओर लौट चुका है। यहाँ 20 से ज्यादा वयस्क बाघ और 15 अवयस्क बाघ/शावक मौजूद हैं। सम्पूर्ण पन्ना लैंड स्केप में शावकों सहित तकरीबन 50 बाघ उपलब्ध हैं।घोरेला मॉडल के रूप में मिली प्रसिद्धि   प्रदेश में वर्ष 2005-06 में बिछड़े अनाथ शावकों को उनके प्राकृतिक रहवास में मुक्त करने की नई पहल की शुरूआत की गई। इससे अनाथ बाघ शावक चिड़िया घर पहुँच जाते थे। उनके वयस्क होते ही प्राकृतिक आवास में मुक्त किया जाना संभव हो सका। कान्हा टाइगर रिजर्व के घोरेला एन्क्लोजर में 9 बाघ शावकों को वयस्क होने पर मुक्त किया जा चुका है। प्रदेश को मिली इस सफलता को पूरी दुनिया में "घोरेला" मॉडल के रूप में प्रसिद्धि मिली है।तीन चरण में ऐसे होती है बाघों की गणना   भारत में बाघों की गणना हरेक 4 साल में की जाती है। इसके तीन चरण निर्धारित हैं। प्रथम चरण में बाघों, अन्य मांसाहारी तथा बड़े शाकाहारी प्राणियों के चिन्ह अर्थात उनके पंजों के निशान, उनकी विष्ठा, खरोंच के निशान और उनके द्वारा किए गए शिकार आदि के आंकड़े एकत्रित किए जाते हैं। इस बाघ ऑकलन को "फेस वन' कहा जाता है। यह प्रक्रिया एक सप्ताह तक चलती है। वन कर्मचारी इन सातों दिन जंगलों में भ्रमण कर वन्य-प्राणियों की उपस्थिति के चिन्ह पहले तीन दिन और अगले तीन दिन वन्य-प्राणियों की प्रत्यक्ष उपस्थिति की संख्या एकत्रित करते हैं।द्वितीय चरण में वैज्ञानिकों द्वारा प्रयोगशालाओं में बाघ आकलन किया जाता है। वैज्ञानिक सेटेलाईट द्वारा एकत्र किए गए आँकड़ो का अध्ययन कर बाघ के रहवास क्षेत्र की स्थिति के बारे में आँकड़ों जुटाते हैं। तीसरे चरण में कैमरा ट्रेपिंग की जाकर बाघों की उपस्थिति के चित्र लिए जाते हैं। इन तीन चरणों में मिले आँकड़े और सबूतों के सांख्यिकी विश्लेषण से किसी क्षेत्र में बाघों की संख्या का आकलन निकाला जाता है।अखिल भारतीय बाघ गणना में सम्पूर्ण भारत में तकरीबन 30 हजार बीटो में गणना कार्य किया जाता है। इसमें 9 हजार बीट केवल मध्यप्रदेश में ही मौजूद हैं। यह एक बहुत श्रम साध्य और व्यापक कार्य है। प्रदेश के वन विभाग ने इस चुनौती को अंगीकार करते हुए वर्ष 2017 से अपनी तैयारियों को अंजाम देना शुरू कर दिया। इसके अंतर्गत वन रक्षकों के कई चरण आयोजित कर उन्हें इसके काबिल बनाया गया। इस तरह दक्षतापूर्ण तरीके से दुष्कर कार्य की गणना कराई जाती है।बाघ है अनोखा वन्य-प्राणी   बाघ सभी को भयभीत करने वाला और शक्तिशाली जन्तु के रूप में जाना जाता है। इसकी दहाड़ और गुर्राहट भयानक के साथ डराने वाली होती है। तीन कि.मी.की रेंज तक इसकी दहाड़ सुनाई देती है। बाघ के पिछले पैर आगे वाले पैरों की तुलना में बढ़े आकार के होते हैं। इससे यह एकबार में 20 से 30 फिट तक की लम्बी छलांग लगा सकता है। बाघ के पैरों का निचला हिस्सा गद्देदारनुमा होता हैं। इस वजह से चुपचाप शिकार के नजदीक तक पहुँच जाता है। बाघ में 60 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से दौड़ने की क्षमता रहती है।बाघ की विशेषता है कि वह समूह में न रहकर अकेला रहने वाला प्राणी है। प्रजनन काल में ही नर और मादा इकट्ठे होते हैं। शावक का जन्म होने के बाद अपनी माँ के साथ डेढ़ से दो साल तक रहकर शिकार करने की कला में पारंगत होता है। बाघ अपना शिकार बड़ी चतुराई और फुर्तीले अंदाज में और ज्यादाकर रात के समय करता है। सर्वविदित है कि यह झाड़ियों में घात लगाकर पीछे से अचानक शिकार पर हमला करता है। शरीर पर बनी धारियों की वजह से आसानी से झाडियों में घुल-मिल जाता है। यह अपने शिकार में गर्दन को निशाना बनाता है।टाइगर रिजर्व क्षेत्रों में उपलब्ध हैं बाघ   प्रदेश का पहला टाइगर रिजर्व 1973 में कान्हा टाइगर बना। अभी प्रदेश में 6 टाइगर रिजर्व हैं। कान्हा, बांधवगढ़, संजय टाइगर रिजर्व, पन्ना, सतपुड़ा और पेंच टाइगर रिजर्व के रूप में मौजूद हैं। इनमें सबसे बड़ा सतपुड़ा टाइगर रिजर्व और सबसे छोटा पेंच टाइगर रिजर्व है।अभयारण्य के रूप में पचमढ़ी, पनपथा, बोरी, पेंच-मोगली, गंगऊ, संजय- दुबरी, बगदरा, सैलाना, गांधी सागर, करेरा, नौरादेही, राष्ट्रीय चम्बल, केन, नरसिहगढ़, रातापानी, सिंघोरी, सिवनी, सरदारपुर, रालामण्डल, केन घड़ियाल, सोन चिड़िया अभयारण्य घाटीगाँव, सोन घड़ियाल अभयारण्य, ओरछा और वीरांगना दुर्गावती अभयारण्य के नाम शामिल हैं।

Dakhal News

Dakhal News 28 July 2021


bhopal,Professor Khem Singh Daheria, new Vice Chancellor ,Hindi University Bhopal

भोपाल । राज्यपाल मंगुभाई पटेल ने अटल बिहारी वाजपेयी हिन्दी विश्वविद्यालय भोपाल के कुलपति पद पर इंदिरा गांधी राष्ट्रीय जनजातीय विश्वविद्यालय, अमरकंटक में हिन्दी विभाग में प्रोफेसर खेमसिंह डहेरिया को नियुक्त किया है। यह जानकारी बुधवार को जनसंपर्क अधिकारी अजय वर्मा ने दी। उन्होंने बताया कि राज्यपाल मंगुभाई पटेल ने अटल बिहारी वाजपेयी हिन्दी विश्वविद्यालय अधिनियम, 2011 की धारा- 29 की उपधारा एक के तहत कुलपति की नियुक्ति की है। कुलपति के रुप में प्रोफेसर खेमसिंह डहेरिया का कार्यकाल कार्यभार ग्रहण करने की तिथि से चार वर्ष की कालावधि या 70 वर्ष की आयु, जो भी पूर्वतर हो, के लिए रहेगा।

Dakhal News

Dakhal News 28 July 2021


bhopal, new consignment , clouds is getting ready, Orange alert issued

भोपाल। लंबे इंतजार के बाद सक्रिय हुआ मानसून अब धीरे-धीरे पूरे शबाब पर आ रहा है। राजधानी भोपाल सहित प्रदेश के अधिकांश जिलों में झमाझम बारिश का सिलसिला जारी है। सावन में बारिश की झड़ी के लिए बादल की नई खेप तैयार हो रही है। रिमझिम फुहारों का सिलसिला जारी: सावन की रिमझिम फुहारों का सिलसिला रविवार को भी जारी रहा। रुक-ररुक कर ही सही पर रिमझिम फुहारों ने सावन का अहसास करा दिया है। बीते दिनों हुई बारिश से वातावरण में आई नमी के कारण धरती तरबतर हो गई है। चारों तरफ हरियाली नजर आने लगी है। मौसम मनभावन होने के साथ ही लोगों को उमस भरी गर्मी से निजात भी मिल गई है। भोपाल में सोमवार सुबह से ही बारिश हो रही है। इसके अलावा छिंदवाड़ा में सुबह से बादल छाए हुए है रुक-रुककर बारिश हो रही है। भिंड में बादल छाए है। उमस व गर्मी बनी है। गुना में सुबह से रिमझिम बारिश जारी है। होशंगाबाद में सुबह से बादल छाए हुए है। बारिश का मौसम बना है। नर्मदा नदी में लगातार जलस्तर बढ़ रहा है। मुरैना और ग्वालियर में मौसम साफ है धूप खिली हुई है। सुबह से तेज धूप है। उमस से लोगों का बुरा हाल है। वरिष्ठ मौसम वैज्ञानिक अजय शुक्ला ने जानकारी देते हुए बताया कि मध्यप्रदेश के उत्तर- मध्य क्षेत्र में कम दबाव का क्षेत्र बना हुआ है। इसी तरह दक्षिण-पश्चिम राजस्थान में भी चक्रवात बन रहा हैं इसके अलावा बंगाल की खाड़ी में एक अन्य कब दबाव का क्षेत्र बन रहा है। जिसके 28 जुलाई तक सक्रिय होने की संभावना है। एक साथ बन रहे कब दबाव के क्षेत्र से आने वाले दिनों में जबलपुर सहित समूचे मध्यप्रदेश में जोरदार बारिश के संकेत मिल रहे हैं। मौसम विभाग के इस अनुमान से यह साफ हो गया है कि जल्द ही सावन की झड़ी से शहर तरबतर होने वाला है। इन जिलों में जारी हुआ आरेंज अलर्ट मौसम विभाग ने आगामी 24 घंटों में ग्वालियर, चंबल संभाग के जिलों के अलावा राजगढ़, आगर, नीमच, मंदसौर व टीकमगढ़ जिले में भारी बारिश की संभावना जताते हुए ऑरेंज अलर्ट जारी किया है। इसके साथ ही गरज-चमक के साथ बिजली गिरने की भी संभावना बताई गई है। भोपाल, होशंगाबाद, उज्जैन, इंदौर, ग्वालियर एवं चंबल संभाग के जिलों में अधिकांश स्थानों पर गरज चमक के साथ बौछारें पडऩे की संभावना है। रीवा व सागर संभाग के अनेक स्थान और जबलपुर व शहडोल संभाग के कुछ स्थानों में भी बौछारें पड़ सकती हैं। नर्मदा का जलस्तर बढ़ा बंगाल की खाड़ी में बने निम्न दबाव ने मध्यप्रदेश में असर दिखाया है। लगातार बारिश से होशंगाबाद में नर्मदा का जलस्तर करीब साढ़े तीन फीट बढ़ गया है। इटारसी का तवा, जबलपुर का बरगी, भोपाल के कलियासोत और केरवा डैम तेजी से भर रहे हैं। सबसे ज्यादा रतलाम में 5 इंच तक पानी गिरा। यहां 48 घंटों में करीब 10 इंच बारिश हुई। भोपाल और इंदौर में 24 घंटों में आधा-आधा इंच बारिश हो चुकी है। पूरे प्रदेश में 24 घंटों में करीब एक इंच औसत पानी गिरा है। प्रदेश में अब तक कुल 15 इंच बारिश हुई है, जो सामान्य है।

Dakhal News

Dakhal News 26 July 2021


ujjain, crowd gathered, doors of Lord Mahaka, opened for everyone

  भोपाल। कोरोना के खतरे के बावजूद लोगों की आस्था पर असर नहीं पड़ा है। हालांकि मंदिरों में कोरोना गाइडलाइन पर अमल का प्रयास किया गया था। इसके बावजूद प्रदेश के शिवालयों में दर्शन और पूजन के लिए जमकर भीड़ उमड़ी। उज्जैन में तो भगवान महाकाल के दर्शन के लिए इतनी भीड़ उमड़ी की मंदिर प्रबंधन को सुबह 11 बजे से भगवान महाकाल के दरवाजे सभी के लिए खोलना पड़े। उज्जैन: नहीं चल पाई प्री बुकिंग की व्यवस्था उज्जैन स्थित महाकाल मंदिर में कोरोना महामारी के कारण सावन महीने में प्री-बुकिंग पर सिर्फ 5,000 लोगों को प्रवेश देना तय हुआ था, लेकिन सावन के पहले सोमवार पर महाकाल मंदिर के बाहर उमड़ी भक्तों की भीड़ देखकर सबके लिए प्रवेश सुबह 11 बजे तक के लिए फ्री कर दिया गया। सुबह 11 बजे तक 10 हजार से ज्यादा श्रद्धालु महाकाल के दर्शन कर चुके थे। इसके बाद मंदिर में श्रद्धालुओं का प्रवेश बंद कर दिया गया। शाम 4 बजे महाकाल की सवारी निकलेगी, जो वापस मंदिर 6 बजे आएगी। शाम 7 से 9 बजे तक श्रद्धालु फिर से दर्शन कर सकेंगे। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान भी आज महाकाल दर्शन के लिए पहुंचेंगे।   खंडवा: भगवान ओंकारेश्वर की सवारी निकलेगी सावन के चारों रविवार और चारों सोमवार को टोकन बुकिंग के माध्यम से ही भक्तों को ओंकारेश्वर ज्योतिर्लिंग मंदिर में प्रवेश दिया जाएगा। आज भगवान ओंकारेश्वर की पहली सवारी निकलेगी। सावन के दूसरे सोमवार को ओंकार भगवान का महाश्रृ्ंगार किया जाएगा। तीसरे सोमवार को 251 लीटर पंचामृत से कोटितीर्थ घाट पर वैदिक विद्वानों की उपस्थिति में महाभिषेक होगा। मंदसौर: बाहर से हो रहे भगवान पशुपतिनाथ के दर्शन कोरोना के चलते मंदसौर के पशुपतिनाथ मंदिर में इस साल भी धार्मिक आयोजन नहीं होंगे। सावन के पहले सोमवार को भक्त गर्भगृह के बाहर से ही दर्शन कर रहे हैं। एक समय में 5-10 लोगों को ही प्रवेश दिया जा रहा है। भगवान की पूजा और अभिषेक मंदिर के पुजारी कर रहे हैं। जलाभिषेक की व्यवस्था बंद है। भोग प्रसादी मंदिर प्रबंधन की ओर से किया जा रहा है। मंदिर में प्रवेश से पहले भक्तों की थर्मल स्क्रीनिंग भी की जा रही है।  

Dakhal News

Dakhal News 26 July 2021


chitrakoot, large number,devotees reached, Chitrakoot

चित्रकूट। भगवान शिव का अतिप्रिय मास श्रावण माह भगवान राम की तपोस्थली चित्रकूट में पवित्र मंदाकिनी नदी में सावन सोमवार के दिन हजारों की संख्या में पहुंचे श्रद्धालुओं ने डुबकी लगाईं और कामतानाथ पर्वत की परिक्रमा लगाई। जानकारी के अनुसार चित्रकूट में सावन के प्रथम सोमवार के दिन शिवालयों में श्रद्धालुओं की भारी भीड़ सुबह से देखने को मिली। यहां मत गजेंद्र नाथ शिव मंदिर में भक्तों का तांता लगा है। बिरसिंहपुर गैबीनाथ में हजारों की तादाद में लोग उमड़ पड़े हैं। कोरोना गाइडलाइन का पालन कराने के लिए पुलिस तैनात की गई। यहां पर पहुंचने वाले सभी श्रद्धालुओं को सामाजिक दूरी और मास्क लगाने की अपील की जा रही है। बता दें कि सावन माह का विशेष महत्त्व भगवान शिव और पार्वती की असीम कृपा प्राप्त होती है। सावन के सोमवार में विशेष पूजा अर्चना करने से भक्तों की मनोकामना पूरी होती है। यही वजह है कि चित्रकूट में रामघाट व कामदगिरि परिक्रमा में हजारों की तादाद में श्रद्धालु पहुंचे हैं। वैसे तो मान्यता है कि चित्रकूट में हर माह की अमावस्या यहां बड़ी संख्या में लोग पहुंचते हैं। धार्मिक ग्रन्थों के अनुसार भगवान श्रीराम के वनवास काल के समय भगवान श्रीराम हर अमावस्या पर मंदाकिनी नदी में स्नान कर कामदगिरि पर्वत की परिक्रमा करते थे। बताया जाता है कि अमावस्या के दिन मंदाकिनी स्नान और कामदगिरी पर्वत की परिक्रमा लगाने से मनुष्य की सारी मनोकामनाएं पूर्ण होती है। इसी मान्यता के अनुसार हर अमावस्या पर तीर्थ नगरी चित्रकूट में बड़ी संख्या में श्रद्धालु पहुंचते हैं।

Dakhal News

Dakhal News 26 July 2021


betul, Heavy rain in MP, 7 gates,Satpura Dam opened

बैतूल। मध्यप्रदेश में इस बार मानसून तय समय से पहले पहुंच गया था, लेकिन अचानक गायब होने से कई इलाकों में सूखे जैसे हालात बने हुए है तो दूसरी ओर कहीं-कहीं झमाझम बारिश का दौर भी जारी है। इस समय बैतूल में लगातार बारिश होने से नदी- नाले उफान पर हैं। बारिश की वजह से सतपुड़ा डैम पानी से लबालब हो गया है, जिसकी वजह से डैम के 7 गेट खोल दिए हैं। वहीं मौसम विभाग ने अगले 24 घंटों में भी भारी बारिश की चेतावनी जारी की है। जानकारी के अनुसार बैतूल, छिंदवाड़ा जिले में तेज बारिश हो रही है बारिश के चलते कई जगह नादी नाले उफान पर आ गए और निचले इलाकों में पानी भर गया जिससे यातायात भी प्रभावित हुआ। वहीं निचले इलाकों में हो रही लगातार बारिश से सतपुड़ा डैम लबालब हो गया। पानी की आवक को देखते हुए जल संसाधन विभाग ने डैम के 7 गेट 2-2 फीट खोलकर 11 हजार 725 क्यूसेक पानी प्रति सेकंड छोड़ा गया। बता दें कि मानसून की पहली बारिश में ही सतपुड़ा डैम लबालब हो गया है। डैम का उच्चतम जलस्तर 1429 फीट है। पानी छोड़े जाने से तवा नदी में भी उफान आ गया। मौसम विभाग के अनुसार बंगाल की खाड़ी में कम दबाव का क्षेत्र बन रहा है। इस कारण मप्र में दो सिस्टम एक्टिवेट हो गया है और सिस्टम धीरे बढ़ रहा है। इस कारण अगले 24 घंटों में भोपाल, होशंगाबाद, जबलपुर, सागर, रीवा, ग्वालियर-चंबल संभाग में हल्की बारिश के साथ बादलों की चमक गरज देखने को मिल सकती है। साथ ही उज्जैन-इंदौर संभाग के जिलों में भी बारिश हो सकती है।

Dakhal News

Dakhal News 22 July 2021


bhopal, Monsoon became active ,once again in MP, rain continues

भोपाल। धीरे -धीरे मध्यप्रदेश में वर्षा की स्थिति में परिवर्तन आ रहा है। समूचे प्रदेश में मानसून एक बार फिर सक्रिय हो गया है। प्रदेश के कई हिस्सा में बारिश का सिलसिला जारी है। मौसम विभाग के आंकड़ों को देखें तो अमूमन पूरे राज्य में वर्षा का दौर शुरू हो गया है। पूर्वी मध्य प्रदेश के सिंगरौली सिटी में सर्वाधिक 130 मिमी वर्षा दर्ज की गई, जबकि दूसरे क्रम पर पश्चिमी मध्य प्रदेश के बड़वानी जिले का चाचरीयापाटी गांव रहा जहां 126 मिमी वर्षा दर्ज की गई। वहीं मौसम विभाग ने भोपाल समेत प्रदेश सभी संभाग में अगले 24 घंटे में अच्छी बारिश की संभावना जताई है। वरिष्ठ मौसम वैज्ञानिक अजय शुक्ला ने जानकारी देते हुए बताया कि साउथ गुजरात और वेस्ट यूपी में ऊपरी हवाओं का चक्रवात बना हुआ है। साथ ही 23 जुलाई को बंगाल की खाड़ी में एक लो प्रेशर एरिया बन रहा है। इससे प्रदेश में नमी आ रही है। इसके कारण ही पिछले दो-तीन दिनों से प्रदेश में अच्छी बारिश हो रही है। शाह ने बताया कि 25 जुलाई तक बारिश का सिलसिला जारी रहने की संभावना है। शाह ने कहा कि भोपाल में भी बादल नीचे आ गए है, इसलिए यहां पर भी अच्छी बारिश होने की संभावना बढ़ गई है। मौसम विभाग के अनुसार अशोकनगर, खंडवा, टीकमगढ़, कटनी, दक्षिण बड़वानी, बालाघाट उमरिया, शहडोल, दक्षिण नरसिंहपुर, जबलपुर, अनूपपुर, सतना ,सीधी और सिंगरौली जिलों में हल्की से मध्यम वर्षा और आवृत वज्रपात होगा। जबकि गुना, बैतूल, सिवनी, छतरपुर, दमोह, मंडला और डिंडोरी जिलों में मध्यम /तीव्र वर्षा और क्रमिक वज्रपात की संभावना है। वहीं छिंदवाड़ा जिले में भारी वर्षा और बारम्बार वज्रपात होने का अनुमान है।  

Dakhal News

Dakhal News 21 July 2021


guna, It rained intermittently, second day as well.

गुना। लगाताद दूसरे दिन सोमवार को अंचलभर में दिनभर रुक-रुक कर बारिश होती रही। इससे लोगों को उमस भरी गर्मी से थोड़ी राहत मिली। बारिश की वजह से जगह-जगह जलभराव हो गया। इस दौरान जुलाई में अभी तक 48.2 मिमी बारिश दर्ज की गई। वहीं पिछले चौबीस घंटे में सोमवार 8:30 बजे तक 18.8 एमएम बारिश हुई। सोमवार सुबह से ही आमसान में बादल छाए रहे। इस दौरान दोपहर 12 के बाद अचानक सिस्टम बना और झमाझम बारिश हुई। हालांकि यह झमाझम बारिश ज्यादा देर नहीं हुई, लेकिन दिनभर रूक-रूक रिमझिम बारिश का दौर चलता रहा। जिससे मौसम में ठंडक बनी रही। जिले में अब तक 168.8 मिमी औसत वर्षा दर्ज इधर जिले में 1 जून से अब तक 168.8 मिमी औसत वर्षा दर्ज की गई है। जो कि सामान्य वर्षा का 16.0 प्रतिशत है। जिले में गतवर्ष इसी अवधि में 282.0 मिमी औसत वर्षा दर्ज की गई थी। जिले की वर्षा ऋतु में सामान्य औसत वर्षा 1053.5 मिमी है। अधीक्षक भू-अभिलेख द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार 1 जून से 19 जुलाई तक जिले के वर्षामापी केन्द्र गुना में 153.8 मिमी, बमौरी में 223.1, आरोन में 190.5, राघौग? में 158.0, चांचौड़ा में 104.0 तथा वर्षामापी केन्द्र कुम्भराज में 183.0 मिमी वर्षा दर्ज की गई है। जिले में बीते 24 घंटे में 63.0 मिमी औसत वर्षा दर्ज की गई। इस अवधि में वर्षा मापी केन्द्र गुना में 18.8 मिमी, बमोरी में 13.2 मिमी, आरोन में 12.0 मिमी., राघौगढ़ में 5.0 मिमी, चांचौड़ा में 0.0 मिमी. एवं वर्षा मापी केन्द्र कुंभराज में 14.0 मिमी. वर्षा दर्ज की गई।  

Dakhal News

Dakhal News 19 July 2021


ujjain,Stone pelting,municipal gang, breaking illegal construction

उज्जैन।आगर मार्ग स्थित नगर निगम के प्रशासनिक भवन के पिछे नजरअली मिल परिसर की भूमि पर हुए अवैध निर्माण को हटाने के लिए जब नगर निगम की गैंग पहुंची तो लोगों ने गैंग पर पथराव कर दिया। मौके पर पुलिस बल बुलाना पड़ा। पुलिस ने स्थिति काबू में ली। इधर पथराव में निगम अधिकारी और कर्मचारी घायल हो गए। निगम के सहायक आयुक्त सुबोध जैन के अनुसार सोमवार को कोतवाली थाना पुलिस के साथ निगम की गैंग ने नजर अली मिल परिसर से अवैध निर्माण हटाना चाहा। यहां रह रहे गुड्डू मेवाड़ा का परिवार अवैध रूप से मकान का निर्माण कर रहा था। निगम अधिकारियों ने जब निगम की भूमि होने तथा स्मार्ट सिटी अन्तर्गत विकास कार्यो के लिए जमीन चाहिए,बोला तो उन पर लोगों ने पथराव कर दिया। इस पर पुलिस बल बुलाया गया और सख्ती के बाद निर्माण तोड़ा जा सका। पूरे समय तीन थानों का बल मौके पर तैनात रहा।

Dakhal News

Dakhal News 19 July 2021


bhopal, Special wonderful ,auspicious coincidence,  Devshayani Ekadashi

भोपाल। देवशयनी एकादशी को पद्मा एकादशी, आषाढ़ी एकादशी और हरिशयनी एकादशी के नाम से भी जाना जाता है। इस साल देवशयनी एकादशी मंगलवार, 20 जुलाई को पड़ रही है। इस साल देवशयनी एकादशी के दिन शुक्ल और ब्रह्म योग बन रहा है। ज्योतिष शास्त्र में इन योग को शुभ योगों में गिना जाता है। इस समयावधि में किए गए कार्यों में सफलता प्राप्त होती है। इन योग में किए गए व्रत दान उपवास से मान सम्मान की प्राप्ति होती है। श्री कल्लाजी वैदिक विश्वविद्यालय के ज्योतिष विभागध्यक्ष डॉ. मृत्युञ्जय तिवारी ने सोमवार को हिन्दुस्थान समाचार को बताया कि आषाढ़ शुक्ल एकादशी से कार्तिक शुक्ल एकादशी तक का चार माह का समय हरिशयन का काल समझा जाता है। वर्षा के इन चार माहों का संयुक्त नाम चातुर्मास दिया गया है। इसके समयावधि में जितने भी पर्व, व्रत, उपवास, साधना, आराधना, जप-तप किए जाते हैं, उनका विशाल स्वरूप एक शब्द में चातुर्मास्य कहलाता है। उन्होंने बताया कि चातुर्मास से चार मास के समय का बोध होता है और चातुर्मास्य से इस समय के दौरान किए गए सभी व्रतों-पर्वों का समग्र बोध होता है। पुराणों में इस चौमासे का विशेष रूप से वर्णन किया गया है। भागवत में इन चार माहों की तपस्या को एक यज्ञ की संज्ञा दी गई है। वराह पुराण में इस व्रत के बारे में कुछ उदारवादी बातें भी बताई गई हैं। संभवतः यह दृष्टिकोण इसलिए समाहित किया गया होगा। क्योंकि यात्रा के दौरान किसी निश्चित स्थान पर पहुंचने में विलंब हो सकता है। उस युग में आज की तरह यात्रा के साधन नहीं थे, इसलिए यह विचार शुमार किया गया होगा। चूंकि चौमासे के व्रत में एक ही स्थान पर रहना आवश्यक है, इसलिए इस परिप्रेक्ष्य में उपरोक्त तथ्य सारगर्भित लगता है।डॉ. तिवारी के अनुसार, शास्त्रों व पुराणों में इन चार माहों के लिए कुछ विशिष्ट नियम बताए गए हैं। इसमें चार महीनों तक अपनी रुचि व अभिष्ठानुसार नित्य व्यवहार की वस्तुएं त्यागना पड़ती हैं। कई लोग खाने में अपने सबसे प्रिय व्यंजन का इन माहों में त्याग कर देते हैं। चूंकि यह विष्णु व्रत है, इसलिए चार माहों तक सोते-जागते, उठते-बैठते ॐ नमो नारायणाय के जप की अनुशंसा की गई है। पौराणिक कथा के अनुसार, सतयुग में मांधाता नाम का एक प्रतापी राजा रहते थे, वे प्रजापालक थे। प्रजा और अपने पुत्र में कभी भेद भाव नहीं किया। इसी कारण उनकी चर्चा तीनों लोक में थी। एक बार जब उनके राज में अकाल पड़ा गया। इसका उपाय ढूंढ़ते-ढूंढ़ते राजा मांधाता अपनी सेना के साथ वन की ओर निकल गए। वन में भटकते हुए वो अंगिरा ऋषि के आश्रम जा पहुंचे। उन्होंने अंगिरा ऋषि से अपनी समस्या के बारे में बताया। राजा ने कहा कि हे ऋषिवर! मैं किसी प्रकार के पापकर्म में संलिप्त नहीं हूं। प्रजा की हमेशा भलाई का ही कार्य करता हूं। फिर भी जाने किस अपराध के कारण राज्य में भयावह अकाल पड़ गया है। ऋषिवर कृपा करके कोई युक्ति बताएं। तब ऋषि अंगिरा ने कहा- हे राजन! सतयुग में धर्म-कर्म का विशेष महत्व है। अगर आप अधर्मी हो जाते हैं या अंजाने में भी कोई पाप कर्म करते हैं तो आपको इस पाप कर्म दंड जरूर मिलेगा या फिर किसी प्रजाजन के द्वारा को पाप कर्म किया जा रहा हो, जिसका दण्ड सबको भुगताना पड़ रहा है। ऋषि अंगिरा ने राजा मांधाता को देवशयनी एकादशी के व्रत रखने का परामर्श दिया और कहा कि इस एकादशी का व्रत करने से समस्त पापों से मुक्ति मिलती है। भगवान विष्णु की कृपा से सभी कष्ट दूर होते हैं। ऋषि अंगिरा के वचनानुसार राजा मांधाता ने देवशयनी एकादशी का व्रत रखा, फलस्वरूप उनके राज्य में बारिश हुई और प्रजा को अकाल से मुक्ति मिली।  

Dakhal News

Dakhal News 19 July 2021


indore, DK Jain, Deputy Engineer ,Municipal Corporation,worth crores

इंदौर। लोकायुक्त पुलिस ने शनिवार की अलसुबह धार नगर पालिका निगम में पदस्थ उपयंत्री डीके जैन के इंदौर और धार में एक साथ निवास पर छापा मारा प्रारंभिक जांच पड़ताल में करोड़ों की बेनामी संपत्ति का खुलासा हुआ है। डीके जैन के खिलाफ आय से अधिक संपत्ति की शिकायतें लोकायुक्त पुलिस को मिली थी। इन शिकायतों की जांच के बाद एसपी सव्यसाची सराफ के निर्देश पर उपयंत्री जैन के ठिकानों की जानकारी जुटाई गई और तीन डीएसपी की अलग-अलग टीमेें बनाई गई। इन तीनों टीमों में निरीक्षण स्तर के कर्मियों को शामिल किया गया और शनिवार सुबह योजना बनाकर एक साथ तीनों ठिकानों पर कार्रवाई की गई। एसपी के निर्देश पर शनिवार अलसुबह डीएसपी संतोष सिंह भदोरिया के नेतृत्व में टीम ने डीके जैन के स्कीम नंबर 78 स्थित मकान पर पहुंची टीम को देख परिजन उस वक्त अचरज में पड़ गए जब टीम ने बताया कि वह लोकायुक्त से आए हैं। लोकायुक्त की टीम ने घर के दरवाजे बंद कर दिए और फोन और मोबाइल जब्त कर जांच पड़ताल शुरू की। बताया जाता है कि प्रारंभिक जांच में 45 ग्राम से अधिक सोने के आभूषण बिस्किट मकान दुकान और कृषि भूमि की 20 से अधिक रजिस्ट्री मिली है केंद्र सरकार की विभिन्न योजनाओं में किए गए निवेश की भी जानकारी मिली है। डीएसपी भदोरिया के मुताबिक डीके जैन जिस बंगले में रहते हैं वहां आलीशान है और उसकी कीमत 1 करोड़ से अधिक की है उनकी नौकरी 40 साल की हो चुकी है और अगले साल रिटायर होने वाले हैं। उनका एक बेटा विवेक जैन प्रॉपर्टी ब्रोकर का काम करता है। उधर, डीएसपी संतोष सिंह भदौरिया और आनंद यादव की टीम ने धार में दो ठिकानों छापा मार कार्रवाई की। उनके यहां से मांडव और धार में जमीनों के दस्तावेजों के साथ कई रजिस्ट्री मिली है। धार में डीएसपी संतोष भदौरिया और इंदौर में प्रवीण बघेल की टीम जांच में जुटी हुई है। इसी प्रकार धार में भी लोकायुक्त की कार्रवाई जारी है प्रारंभिक जांच में पता चला है कि डीके जैन ने धार में भी बेनामी संपत्ति खरीदी है ।राऊ में इकलौते इंजीनियर थेपूर्व में राऊ में इंजीनियर रहे डीके जैन का धार नगर पालिका में तबादला हो गया था, राऊ में रहते हुए जैन पर भ्रष्टाचार के आरोप भी लगे थे, नक्शों से लेकर अन्य कामों व कालोनी हैंडओवर करने के मामले में भी सवालिया निशान लगे थे,राऊ में एकमात्र वही इंजीनियर थे,जबकि इस समय राऊ में तीन इंजीनियर है,ऐसे में उस दौर में उन्होंने राऊ से खूब मलाई छानी थी। भ्रष्टाचार से आय से अधिक संपत्ति खड़ी करने की शिकायत लोकायुक्त तक पहुंची,जिस पर लोकायुक्त ने आज सुबह डीके जैन के इंदौर स्थित 78 स्कीम निवास व धार के ठिकाने पर छापामार कार्रवाई शुरू की है। जैन सेवा निवृत्ति निकट है,ऐसे में कार्रवाई से दाग लगने जा रहा है। राऊ में रहते हुए जैन ने अपने बेटे की शादी नखराली ढाणी में धूमधाम से की थी।  

Dakhal News

Dakhal News 17 July 2021


indore, DK Jain, Deputy Engineer ,Municipal Corporation,worth crores

इंदौर। लोकायुक्त पुलिस ने शनिवार की अलसुबह धार नगर पालिका निगम में पदस्थ उपयंत्री डीके जैन के इंदौर और धार में एक साथ निवास पर छापा मारा प्रारंभिक जांच पड़ताल में करोड़ों की बेनामी संपत्ति का खुलासा हुआ है। डीके जैन के खिलाफ आय से अधिक संपत्ति की शिकायतें लोकायुक्त पुलिस को मिली थी। इन शिकायतों की जांच के बाद एसपी सव्यसाची सराफ के निर्देश पर उपयंत्री जैन के ठिकानों की जानकारी जुटाई गई और तीन डीएसपी की अलग-अलग टीमेें बनाई गई। इन तीनों टीमों में निरीक्षण स्तर के कर्मियों को शामिल किया गया और शनिवार सुबह योजना बनाकर एक साथ तीनों ठिकानों पर कार्रवाई की गई। एसपी के निर्देश पर शनिवार अलसुबह डीएसपी संतोष सिंह भदोरिया के नेतृत्व में टीम ने डीके जैन के स्कीम नंबर 78 स्थित मकान पर पहुंची टीम को देख परिजन उस वक्त अचरज में पड़ गए जब टीम ने बताया कि वह लोकायुक्त से आए हैं। लोकायुक्त की टीम ने घर के दरवाजे बंद कर दिए और फोन और मोबाइल जब्त कर जांच पड़ताल शुरू की। बताया जाता है कि प्रारंभिक जांच में 45 ग्राम से अधिक सोने के आभूषण बिस्किट मकान दुकान और कृषि भूमि की 20 से अधिक रजिस्ट्री मिली है केंद्र सरकार की विभिन्न योजनाओं में किए गए निवेश की भी जानकारी मिली है। डीएसपी भदोरिया के मुताबिक डीके जैन जिस बंगले में रहते हैं वहां आलीशान है और उसकी कीमत 1 करोड़ से अधिक की है उनकी नौकरी 40 साल की हो चुकी है और अगले साल रिटायर होने वाले हैं। उनका एक बेटा विवेक जैन प्रॉपर्टी ब्रोकर का काम करता है। उधर, डीएसपी संतोष सिंह भदौरिया और आनंद यादव की टीम ने धार में दो ठिकानों छापा मार कार्रवाई की। उनके यहां से मांडव और धार में जमीनों के दस्तावेजों के साथ कई रजिस्ट्री मिली है। धार में डीएसपी संतोष भदौरिया और इंदौर में प्रवीण बघेल की टीम जांच में जुटी हुई है। इसी प्रकार धार में भी लोकायुक्त की कार्रवाई जारी है प्रारंभिक जांच में पता चला है कि डीके जैन ने धार में भी बेनामी संपत्ति खरीदी है ।राऊ में इकलौते इंजीनियर थेपूर्व में राऊ में इंजीनियर रहे डीके जैन का धार नगर पालिका में तबादला हो गया था, राऊ में रहते हुए जैन पर भ्रष्टाचार के आरोप भी लगे थे, नक्शों से लेकर अन्य कामों व कालोनी हैंडओवर करने के मामले में भी सवालिया निशान लगे थे,राऊ में एकमात्र वही इंजीनियर थे,जबकि इस समय राऊ में तीन इंजीनियर है,ऐसे में उस दौर में उन्होंने राऊ से खूब मलाई छानी थी। भ्रष्टाचार से आय से अधिक संपत्ति खड़ी करने की शिकायत लोकायुक्त तक पहुंची,जिस पर लोकायुक्त ने आज सुबह डीके जैन के इंदौर स्थित 78 स्कीम निवास व धार के ठिकाने पर छापामार कार्रवाई शुरू की है। जैन सेवा निवृत्ति निकट है,ऐसे में कार्रवाई से दाग लगने जा रहा है। राऊ में रहते हुए जैन ने अपने बेटे की शादी नखराली ढाणी में धूमधाम से की थी।  

Dakhal News

Dakhal News 17 July 2021


bhopal, Wind trend, started changing in MP, rain expected

भोपाल। जुलाई माह का एक पखवाड़ा बीत जाने के बाद भी झमाझम का इंतजार कर रहे प्रदेशवारियों के लिए राहत भरी खबर है। मानसून ट्रफ के मध्य प्रदेश से होकर गुजरने और हवाओं का रुख बदलने से मौसम का मिजाज बदलने की संभावना बढ़ गई है। मौसम विभाग के अनुसार हवा का रुख बदलने से वातावरण में नमी बढऩे लगी है। तापमान बढऩे से शनिवार को राजधानी और आसपास के इलाके में गरज-चमक के साथ बौछारें पड़ सकती हैं। रविवार से बरसात की गतिविधियों में और तेजी आने के भी आसार हैं। वरिष्ठ मौसम वैज्ञानिक अजय शुक्ला ने जानकारी देते हुए बताया कि पिछले कई दिनों से हवा का रुख पूर्वी बना हुआ था। इस वजह से वातावरण में नमी कम हो रही थी, जिसके चलते आसमान साफ हो गया था। धूप निकलने से जहां अधिकतम तापमान बढऩे लगा था, वहां उमस बेहाल करने लगी थी। वर्तमान में हवा का रुख बदलकर दक्षिण-पूर्वी हो गया है। हवा की रफ्तार भी कुछ बढऩे लगी है। हवाओं के साथ नमी भी आने लगी है। उधर मानसून ट्रफ भी वर्तमान में सागर, गुना, रतलाम से होकर गुजर रही है। इस वजह से शनिवार को दोपहर के बाद राजधानी सहित मध्य देश के कई जिलों में गरज-चमक के साथ बौछारें पडऩे की संभावना है। हवा का रुख दक्षिण-पश्चिमी होने की संभावना के चलते रविवार से प्रदेश में बारिश की गतिविधियों में और तेजी भी आने के आसार हैं। उधर बंगाल की खाड़ी में 21 जुलाई को एक कम दबाव का क्षेत्र बनने जा रहा है। इस सिस्टम के आगे बढऩे से मानसून के फिर सक्रिय होने की उम्मीद है। इससे जुलाई के अंतिम सप्ताह में प्रदेश में अच्छी बरसात देखने को मिल सकती है।

Dakhal News

Dakhal News 17 July 2021


anuppur, Mineral department ,caught three tractors , illegal sand mining

अनूपपुर। फुनगा चौकी के ग्राम धुम्मा में गोडारु नदी से अवैध रेत उत्खनन करते शुक्रवार को खनिज विभाग ने तीन ट्रेक्टरों को पकड़ते हुए प्रकरण दर्ज कर कलेक्टर न्यायालय में प्रस्तुत किया। खनि निरिक्षक राहुल शांडिल्य ने बताया कि शुक्रवार को शिकायत के आधार ग्राम धुम्मा में गोडारु नदी से रेत का अवैध उत्खनन कर रहें 3 ट्रेक्टरों को रोककर खनिज विभाग द्वारा वाहन चालकों से रेत उत्खनन के संबंध में दस्तावेज अथवा अभिवहन पास प्रस्तुत को कहा जिस पर चालकों ने किसी भी प्रकार के दस्तावेज अथवा अभिवहन पास प्रस्तुत नही किया गया। जिस पर तीनों ट्रेक्टरों को जब्त कर शासकीय अभिरक्षा में फुनगा चौकी में खड़ा कराया गया। इनके विरुद्ध प्रकरण दर्ज कर कलेक्टर न्यायालय में प्रस्तुत किया जा रहा हैं। कार्यवाही में खनिज निरीक्षक राहुल शांडिल्य सहित अन्य लोगों की भूमिका रहीं।  

Dakhal News

Dakhal News 16 July 2021


mandsor, Hospital

मंदसौर। शुक्रवार को नई आबादी के चौधरी कॉलोनी स्थित कर्मचारी राज्य बीमा चिकित्सालय कार्यालय में लोकायुक्त पुलिस उज्जैन के दल की कार्यवाही से हड़कंप मच गया। फरियादी स्टॉफ नर्स निर्मला सोनी के मामले में योजनाबद्ध ढंग से हॉस्पिटल के ग्रेड 3 क्लर्क सत्यनारायण सोनी को रुपये 25 हजार नकद रिश्वत लेते रंगे हाथों पकड़ लिया। लोकायुक्त पुलिस इंस्पेक्टर बसंत श्रीवास्तव ने बताया कि फरियादी नर्स निर्मला सोनी का पिछले दो वर्षों का एरियर पेमेंट 2 लाख 6 हजार रुपये आया था। वह राशि देने के नाम पर एकमुश्त 25 हजार रुपये की मांग क्लर्क सोनी द्वारा की जा रही थी । नर्स निर्मला का रिटायरमेंट मार्च 22 में होने वाला है। उनके द्वारा एस पी लोकायुक्त शैलेंद्र सिंह चैहान को दिये आवेदन के आधार पर 16 जुलाई को कार्यवाही की है। आरोपित सत्यनारायण सोनी द्वारा रुपये लेने उपरांत पकड़ा और हाथों का परीक्षण किया। पानी रंग गुलाबी हो गया। आरोपित के विरुद्ध भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के तहत प्रकरण दर्ज किया है। लोकायुक्त पुलिस दल द्वारा क्लर्क सोनी द्वारा रुपये मांग की रिकॉर्डिंग भी हुई है। स्टॉफ नर्स निर्मला सोनी ने बताया कि बाबू सत्यनारायण सोनी रिकवरी, पेंशन और वेतन आदि कार्य देखते हैं, आये दिन जीपीएफ व अन्य के नाम पैसों की डिमांड करते हैं । नहीं देने पर पेंशन अटकाने की धमकी देते हैं । इन्क्रीमेंट एरियर राशि के लिये मांगी रिश्वत पर लोकायुक्त को शिकायती आवेदन दिया था । इधर आरोपित सत्यनारायण सोनी का कथन है कि मेरे द्वारा दिये गए उधार 25 हजार रुपये मांगे जाने पर यह कार्यवाही कराई गई है।

Dakhal News

Dakhal News 16 July 2021


bhopal,possibility of rain, some places, state on Saturday

भोपाल। आधा जुलाई बीतने के बाद भी मप्र में झमाझम बरसात के लिए लोग तरस रहे हैं। झुलसाती गर्मी और उमस ने हलाकान कर रखा है। छिटपुट बरसात को छोडक़र देखा जाए तो अब भी लोगों को झमाझम का बेसब्री से इंतजार है। प्रदेश में मानसून को दस्तक दिए एक महीना होने को आया है, लेकिन अब तक पूरे प्रदेश में एक जैसी बारिश नहीं हुई है। मौसम विभाग ने शनिवार से राजधानी सहित प्रदेश के कुछ जिलों में बौछारें पडऩे का की संभावना जताई है। वरिष्ठ मौसम वैज्ञानिक पीके साहा ने जानकारी देते हुए बताया कि मुख्य कारण विंड पैटर्न का सपोर्ट नहीं करने और लो प्रेशर एरिया ठीक से नहीं बन पाने के कारण मौसम का मूवमेंट ठीक नहीं बन पा रहा है। अमूमन बारिश के सीजन में जुलाई और अगस्त माह में सर्वाधिक बरसात होती है, लेकिन इस बार जुलाई के पहले 15 दिनों में अपेक्षित बरसात नहीं हुई है। वातावरण में नमी कम रहने से धूप निकल रही है। मानसून के प्रभावी होने के बाद बंगाल की खाड़ी और अरब सागर में एक भी ऐसा वेदर सिस्टम नहीं बना, जिससे प्रदेश में मानसून को पर्याप्त ऊर्जा मिल सके। इस वजह से बरसात का क्रम लगभग थमा सा रहा। उधर पिछले चार-पांच दिन से विदर्भ पर बने पूर्वी-पश्चिमी ट्रफ के कारण राजधानी सहित पूरे प्रदेश में हवा का रुख पूर्वी बना हुआ है। इस वजह से बंगाल की खाड़ी और अरब सागर से नमी भी नहीं मिल पा रही है। यह सिस्टम शुक्रवार को कमजोर पडक़र समाप्त होने लगेगा। जिसके चलते एक बार फिर हवा का रुख पश्चिमी और दक्षिण-पश्चिमी होने लगेगा। साथ ही मानसून ट्रफ के भी प्रदेश में आने की संभावना है। इससे शनिवार से राजधानी सहित ग्वालियर, चंबल संभाग में तेज बौछारें पडऩे की संभावना बन रही है। 20 जुलाई के बाद बंगाल की खाड़ी में एक सिस्टम बन रहा है। उससे बारिश की संभावना बन रही है। गुजरात और राजस्थान तरफ अभी मानसून थोड़ा एक्टिव है। इसी से मालवा-निमाड़ में हल्की बारिश होती रहेगी। हालांकि टुकड़ों-टुकड़ों में ही पानी गिरेगा। लोकल वेदर से ही हल्की बारिश होती रहेगी।

Dakhal News

Dakhal News 16 July 2021


raisen,Major action , Food Department , instructions of the Collector

रायसेन। जिले के बरेली अनुभाग के तहत बाड़ी तहसील की ग्राम पंचायत जमुनियॉ में सार्वजनिक वितरण प्रणाली के तहत गरीबों को प्रदाए किए जाने वाले खाद्यान्न में अनियमितताएं कर गरीबों के हक का राशन चोरी करने वाले चार आरोपितों के विरूद्ध कलेक्टर उमाशंकर भार्गव के निर्देश पर खाद्य विभाग द्वारा बड़ी कार्यवाही की गई है। चारों आरोपितों-प्राथमिक वनोपज सहकारी समिति बाड़ी के समिति प्रबंधक प्रमोद जगेत पुत्र बलबंत जगेत, सुप्यार सिंह पुत्र हरीशचंद्र अनाधिकृत विक्रेता, अच्छे भैया पुत्र हरीशचंद विक्रेता एवं गजेन्द्र सिंह पुत्र ताहर सिंह सहायक विक्रेता शासकीय उचित मूल्य दुकान जमुनियॉ के विरूद्ध गुरुवार को आवश्यक वस्तु अधिनियम के तहत प्रथम सूचना रिपोर्ट (एफआईआर) दर्ज की गई है तथा चोर बाजारी अधिनियम 1980 के तहत केन्द्रीय जेल भोपाल भेजने के आदेश जारी किए गए हैं। कनिष्ठ आपूर्ति अधिकारी धर्मेन्द्र वर्मा ने बताया कि बरेली अनुभाग के तहत बाड़ी तहसील की ग्राम पंचायत जमुनियां में सार्वजनिक वितरण प्रणाली को लेकर गंभीर शिकायतें प्राप्त होने पर कलेक्टर उमाशंकर भार्गव द्वारा संयुक्त जांच दल गठित कर शासकीय उचित मूल्य दुकान जमुनियां की विस्तृत जांच कराई गई। जांच में पाया गया कि प्राथमिक वनोपज सहकारी समिति बाडी द्वारा संचालित शासकीय उचित मूल्य दुकान जमुनियॉ के प्रबंधक, प्रमोद जगेत, विक्रेता अच्छे भैया एवं सहायक विक्रेता गजेन्द्र सिहं द्वारा दुकान का संचालन अनाधिकृत विक्रेता सुप्यार सिंह से कराया जा रहा था। जांच समय दुकान पर उपस्थित कुल 39 परिवारों के कथन अनुसार उन्हें 03 माह के नियमित निःशुल्क खाद्यान्न में से कुछ हितग्राहियों को मात्र 01 माह के खाद्यान्न का सषुल्क वितरण, कुछ हितग्राहियों को 01 माह के खाद्यान्न की निर्धारित पात्रता से भी कम मात्रा में खाद्यान्न वितरण एवं कुछ हितग्राहियों को 02 माह एवं 3 माह का नियमित खाद्यान्न प्रदाय नहीं किया जाना पाया गया। इसी प्रकार माह जून 2021 में प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना के खाद्यान्न वितरण के समय 118 पात्रता पर्चीधारी परिवारों से पीओएस मशीन में अंगूठा/अंगुलियां लगवा लिये गए लेकिन इनमें से कुछ ही पात्रता-पर्चीधारी परिवारों को वास्तविक रूप से राषन सामग्री दी गई। जबकि शासन निर्देशानुसार हितग्राहियों को एकमुश्त दो माह का निशुल्क 10 किलो प्रति सदस्य गेहूं का वितरण किया जाना था। जांच में अंत्योदय परिवारों को शक्कर का वितरण एवं कई पात्र हितग्राहियों को हर माह नियमित रूप से प्रदाय होने वाले चावल एवं नमक का वितरण भी नहीं करना पाया गया। पात्र परिवारों को केरोसिन का वितरण भी मात्र एक बार 50 रुपये प्रति लीटर के भाव से करना पाया गया जबकि पिछले 06 माह में केरोसिन वितरण की फुटकर विक्रय दर 35 रुपये प्रति लीटर से 41 रुपये प्रति लीटर के मध्य थी। इस प्रकार केरोसिन की निर्धारित दर से अधिक राशि वसूल करना पाया गया एवं शासकीय उचित मूल्य दुकान जमुनियॉ से हर माह नियमित रूप से केरोसिन का वितरण नहीं करना पाया गया। दुकान के भौतिक सत्यापन में प्राप्त मात्रा का मिलान करने पर 218.17 क्विंटल गेहूं, 71.40 चावल, 1.20 क्विंटल शक्कर, 6.73 क्विंटल नमक, 599 लीटर केरोसिन स्टॉक में कम पाया जाकर स्पष्ट रूप से व्यपवर्तन करना पाया गया। जिसकी अनुमानित राशि नौ लाख 73 हजार 192 रुपये होती है। जांच समय हितग्राहियों द्वारा यह भी बताया है कि अनाधिकृत विक्रेता सुप्यार सिंह राशन दुकान पर बंदूक रखकर राशन वितरण करता है तथा उससे हितग्राहियों को डराता धमकाता है। अनाधिकृत विक्रेता सुप्यार सिंह एवं प्राथमिक वनोपज सहकारी समिति बाडी के प्रबंधक प्रमोद जगेत ने वर्ष 2018 में भी शासकीय उचित मूल्य दुकान अमरावदकला में इसी प्रकार की गंभीर अनियमितताएं करते हुए पात्र हितग्राहियों को प्रदाय किए जाने वाले राशन की कालाबाजारी की थी जिसकी अनुमानित राशि चार लाख 71 हजार 102 रुपये है। इस प्रकार प्राथमिक वनोपज सहकारी समिति बाड़ी का समिति प्रबंधक प्रमोद जगेत पुत्र बलबंत जगेत, सुप्यार सिंह पुत्र हरीशचंद्र अनाधिकृत विक्रेता, अच्छे भैया पुत्र हरीशचंद विक्रेता एवं गजेन्द्र सिंह पुत्र ताहर सिंह सहायक विक्रेता शासकीय उचित मूल्य दुकान जमुनियॉ दुकान कोड 3005136 तहसील बाड़ी द्वारा राशन सामग्री को कालाबाजारी हेतु व्यपवर्तित कर एवं अन्य गंभीर अनियमितताएं करने पर मध्यप्रदेश सार्वजनिक वितरण प्रणाली (नियंत्रण) आदेश, 2015 के तहत प्रकरण दर्ज किया गया। चारों आरोपितों के विरूद्ध आवश्यक वस्तु अधिनियम 1955 की धारा 3/7 के तहत प्रथम सूचना रिपोर्ट थाना भारकच्छ में दर्ज कराई गई। जिला दण्डाधिकारी द्वारा सभी के विरूद्ध चोर बाजारी निवारण तथा अत्यावश्यक वस्तुओं को प्रदाय बनाये रखना अधिनियम, 1980 की धारा 3 के तहत प्रदत्त शक्तियों का प्रयोग करते हुये गरीबों के राशन की कालाबाजारी करने बाले उक्त चारों आरोपियों को केन्द्रीय जेल भोपाल में निरूद्ध करने के आदेश पारित किये गये है। तथा दुकान आवंटन प्राधिकारी अनुविभागीय अधिकारी बरेली द्वारा प्राथमिक वनोपज सहकारी समिति बाडी द्वारा संचालित उक्त शासकीय उचित मूल्य दुकान जमुनिया को निलंबित किया गया है। कलेक्टर भार्गव द्वारा सुप्यार सिंह की चल अचल सम्पत्ति की जानकारी एवं बदूक लायसेंस के संबंध में विस्तृत प्रतिवेदन अनुविभागीय अधिकारी बरेली से चाहा गया है। अनाधिकृत विक्रेता सुप्यार सिंह को नागरिक आपूर्ति निगम बाडी के प्रदाय केन्द्र से लगातार दो वर्षों तक खाद्यान्न सामग्री प्रदाय करने पर जिला प्रबंधक नागरिक आपूर्ति निगम को भी संबंधित दोषी अधिकारी कर्मचारी के विरूद्ध कार्यवाही करने के निर्देश दिए गये हैं। कलेक्टर के निर्देशानुसार शासकीय उचित मूल्य दुकानों से हितग्राहियों को पात्रतानुसार राशन सामग्री का वितरण सुनिश्चित हो इस दृष्टि से निरन्तर राशन दुकानों की जांच की कार्यवाही की जा रही है, जो सतत् जारी रहेगी।

Dakhal News

Dakhal News 15 July 2021


ujjain, This time ,no entry , Kanwar pilgrims, Mahakaleshwar temple

उज्जैन। महाकालेश्वर मंदिर में गत वर्ष की तरह इस वर्ष भी कांवड़ यात्रियों का प्रवेश नहीं होगा। उज्जैन जिले में कांवड़ यात्रा प्रतिबंधित रहेगी, वहीं जिले के बाहर से आनेवाले किसी भी कांवड़ यात्रा को उज्जैन में प्रवेश नहीं दिया जाएगा। यह जानकारी प्रशासक सह एडीएम नरेंद्र सूर्यवंशी ने दी। उन्होंने बताया कि कोरोना प्रोटोकाल का पालन करते हुए गत वर्ष की तरह इस वर्ष भी जिले में कांवड़ यात्राओं को प्रतिबंधित किया गया है। इस संबंध में आदेश शीघ्र ही जारी हो जाएगा। उन्होंने बताया कि श्रावण मास में जिले से बाहर से कांवड़ यात्राएं उज्जैन आती है। इन यात्राओं को भी उज्जैन में प्रवेश नहीं दिया जाएगा। श्रावण महोत्सव निरस्त..सवारी निकलेगी छोटे मार्ग से सूर्यवंशी ने बताया कि कोरोना प्रोटोकाल के तहत इस वर्ष भी श्रावण मास के प्रति रविवार की शाम को महाकाल प्रवचन हाल में होनेवाले श्रावण महोत्सव समारोह को निरस्त कर दिया गया है। वहीं श्रावण एवं भादौ मास में निकलनेवाली सवारियों को गत वर्ष की तरह छोटे मार्ग से निकाला जाएगा। सवारी महाकाल मंदिर से हरसिद्धि मंदिर होकर रामघाट पहुंचेगी। वापसी में हरसिद्धि की पाल से हरसिद्धि मंदिर होकर महाकाल मंदिर आएगी। इस सवारी में फिलहाल यही तय किया गया है कि श्रद्धालुओं का प्रवेश निषेध रहेगा। लाइव प्रसारण द्वारा वे सवारी दर्शन कर सकेंगे। श्रद्धालुओं की संख्या बढ़ाने पर हो रहा है विचार सूर्यवंशी ने बताया कि श्रावण मास में देशभर से श्रद्धालु बाबा के दर्शन के लिए आते हैं। अभी केवल 3500 श्रद्धालुओं की बुकिंग ही प्रतिदिन ऑनलाइन की जा रही है। संभावना है कि श्रावण मास प्रारंभ होने से पूर्व कलेक्टर सह मंदिर प्रबंध समिति अध्यक्ष आशीषसिंह द्वारा इस संबंध में निर्णय लिया जाए और श्रद्धालुओं की संख्या बढ़ाई जाए।

Dakhal News

Dakhal News 15 July 2021


bhopal, Urban body ,panchayat elections , Madhya Pradesh

भोपाल। मध्यप्रदेश में नगरीय निकाय चुनाव को लेकर हलचल तेज हो गई है। जल्द ही मध्यप्रदेश में नगरीय निकाय और पंचायत चुनाव संपन्न कराए जाऐंगे। राज्य निर्वाचन आयुक्त बी पी सिंह ने गुरुवार को नगरी निकाय चुनाव की तैयारियों को लेकर बैठक ली। बैठक में उन्होंने मध्यप्रदेश में पंचायत चुनाव से पहले नगरी निकाय के चुनाव होने के संकेत दिए। वहीं प्रदेश में प्रभावी वेक्सिनेशन के बाद नगरी निकाय और त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव कराना संभव हो सकेगा। राज्य निर्वाचन आयुक्त बी पी सिंह ने समय सीमा के अंदर निकाय चुनाव की तैयारियां पूरी करने के निर्देश दिए। राज्य निर्वाचन आयुक्त बसंत प्रताप सिंह ने राज्य में त्रिस्तरीय पंचायत और नगरीय निकाय चुनावों को लेकर तैयारियों की समीक्षा की है। मध्यप्रदेश में अप्रत्यक्ष प्रणाली से महापौर और अध्यक्ष के चुनाव होंगे। प्रत्यक्ष रूप से जनता नहीं चुन सकेगी। अब पार्षद नगरीय निकाय के महापौर और अध्यक्ष को चुनेंगे। मध्यप्रदेश में 347 नगरी निकाय में चुनाव होंगे। बता दें कि कोरोना संक्रमण के कारण पिछले साल से ही यहां चुनाव नहीं कराए जा सके हैं। लेकिन संक्रमण कम होने के बाद अब उम्मीद की जा रही है कि शीघ्र ही यहां चुनाव होंगे।

Dakhal News

Dakhal News 15 July 2021


indore, After three hours of effort, SDRF team

इंदौर। रविवार रात पिकनिक मनाने गए 6 छात्रों में से दो की कुंड में डूबने से मौत हो गई थी। रात में अंधेरा होने के कारण मृत छात्रों के शव नहीं खोजे जा सके थे। एसडीआरएफ की टीम ने सोमवार सुबह तीन घंटों की मशक्कत के बाद दोनों छात्रों हसन और नाजिम के शव कुंड से निकाल लिए, जिसके बाद उन्हें पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया। डीएसपी अजय वाजपेयी के अनुसार सोमवार सुबह से पुलिस और एसडीआरएफ की टीम दोनों छात्रों के शव तलाशने में जुटी रही। सबसे पहले टीम ने हसन का शव तलाशा, जबकि एक घंटे बाद नाजिम का शव भी मिल गया। पुलिस के अनुसार राजेंद्र नगर क्षेत्र के 6 लड़के तालिब, अमान उसके चचेरे भाई सहित हसन और नाजिम रविवार को पिकनिक मनाने गए थे। दोपहर में सभी लड़के मोहाली के जंगल में घूमने गए और कुंड में उतरने के लिए 600 फीट गहराई में पहाड़ी के नीचे पहुंच गए। सभी लड़के कुंड के पास ही पिकनिक मना रहे थे। तालिब को छोड़कर बाकी लड़के कुंड में नहाने उतर गए। कुंड की गहराई करीब 50 फीट है। जब सभी लड़के डूबने लगे तो तालीब ने अमन और उसके दोनों भाइयों को पकड़कर बाहर निकाला। हसन (18) पुत्र दिलबर खान और नाजिम (18) पुत्र इलियास खान पानी में डूब गए। पुलिस के मुताबिक ये सभी छात्र थे। कुछ 12वीं की पढ़ाई कर रहे थे और कुछ एनआईआईटी की तैयारी कर रहे थे।

Dakhal News

Dakhal News 12 July 2021


Ratlam, Pickup and tractor collided , high speed trolley, three killed

रतलाम। जिले के फोरलेन बायपास पर सोमवार सुबह एक तेज रफ्तार ट्राले से पिकअप और ट्रैक्टर की जोरदार भिड़ंत हो गई। हादसे में ट्राले के चालक सहित 3 लोगों की मौके पर ही मौत हो गई। वहीं छह लोग गंभीर रुप से घायल हो गए। सभी घायलों को ईलाज के लिए जिला अस्पताल में भर्ती करवाया गया है। दुर्घटना इतनी भीषण थी कि तीनों वाहन पलट गए तथा ट्रैक्टर के टायर फूट गए और वे बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो गए। जानकारी अनुसार महू नीमच हाईवे (नयागांव-लेबड फोरलेन) पर स्टेशन रोड थाना क्षेत्र के सालाखेडी बायपास पर मालवा ढाबे के समीप सोमवार सुबह करीब 10:30 बजे तीन वाहनों की जोरदार भिड़ंत हो गई। दिल्ली से बेंगलुरु जा रहे ट्राला क्रमांक एचआर 47 डी2330 का टायर फट गया। अनियंत्रित ट्राले की चपेट में गेहूं से भरी हुई पिकअप वाहन और खेत पर दवाई स्प्रे करने जा रहा ट्रैक्टर आ गए। टक्कर इतनी जबरदस्त थी कि ट्रैक्टर ट्राली के नीचे दब गया। वहीं, पिकअप वाहन के परखच्चे उड़ गए। हादसे में तीन लोगों की मौके पर मौत हो गई तथा छह व्यक्ति घायल हो गए। हादसे में लोडिंग पिकअप वाहन में सवार 42 वर्षीय सय्यद अली पुत्र फकरुद्दीन निवासी नागपुर चाल पुणे (महाराष्ट्र) तथा उसके छोटे भाई 40 वर्षीय उमर की मोके पर ही मौत हो गई। वही 40 वर्षीय शाह मंजर पुत्र समसुद्दीन कुरैशी, 45 वर्षीय नवनाथ पुत्र मोहन सालुंकी व 40 वर्षीय गुफरान तीनों निवासी पुणे घायल हो गए। वहीं ट्रैक्टर ट्राली में सवार पहलादपुर रघुनाथ पलासिया निवासी ग्राम कोठड़ी थाना बिलपांक जिला रतलाम की मौत हो गई। वहीं ट्रैक्टर ट्राली में सवार 45 वर्षीय रईस खान पुत्र शरीफ खान निवासी अलकापुरी रतलाम घायल हो गए। इसी प्रकार कंटेनर में सवार 25 वर्षीय मोहम्मद अथर पुत्र रईस निवासी ग्राम डवारसी थाना आदमपुर जिला अमरोहा (यूपी) व 23 वर्षीय मोहम्मद तालिब पुत्र कामिल निवासी ग्राम अहार जिला बुंदलशहर भी घायल हो गए। हादसे के वक्त महू-नीमच फोरलेन पर मेंटेनेंस का कार्य चल रहा था जिसकी वजह से फोरलेन का एक ही लाइन आवागमन के लिए चालू था। इस दौरान तेज रफ्तार ट्राले का टायर फटने से यह हादसा हुआ। हादसे की सूचना मिलने पर सालाखेड़ी चौकी पुलिस मौके पर पहुंची और घायलों को जिला अस्पताल पहुंचाया।

Dakhal News

Dakhal News 12 July 2021


Bhopal, Strong humidity, throughout the day, rains in the night

भोपाल। वातावरण में मौजूद नमी के कारण राजधानी भोपाल में रविवार को दिन भर उमस लोगों को परेशान करती रही। इसके बाद देर रात शहर के कई इलाकों में तेज और मध्यम बारिश हुई। इससे तापमान में कुछ कमी आई है। वहीं, मौसम वैज्ञानिकों ने सोमवार को भी राजधानी सहित प्रदेश के कई जिलों में बारिश होने की संभावना प्रकट की है। मौसम विज्ञान केंद्र से मिली जानकारी के मुताबिक भोपाल शहर में पिछले चौबीस घंटों के दौरान 13.1 मिलीमीटर बारिश दर्ज हुई। राजधानी में सोमवार सुबह साढ़े आठ बजे तक कुल 321.2 मिलीमीटर बरसात हो चुकी है। यह सामान्य (232.6 मिलीमीटर) की तुलना में 34 फीसद अधिक है। बीते चौबीस घंटों के दौरान होशंगाबाद में 5.2, पचमढ़ी में 12, बैतूल में 4.6, सतना में 0.6, रीवा में 7.4, ग्वा लियर में 3.5, इंदौर में 12.8, खंडवा में 24, गुना में 43, रतलाम में 25, उज्जैीन में 14.6 मिमी बारिश रिकॉर्ड की गई। गरज-चमक के साथ हो सकती है बारिश वरिष्ठ मौसम विज्ञानी पीके साहा ने बताया कि बंगाल की खाड़ी में एक कम दबाव का क्षेत्र बन गया है। मानसून ट्रफ राजस्थान से मप्र के मध्य से होते हिुए दक्षिणी छत्तीसगढ़, ओडिशा होते हुए बंगाल की खाड़ी में बने कम दबाव के क्षेत्र तक बना हुआ है। इसके अतिरिक्त उत्तरी पाकिस्तान पर हवा के ऊपरी भाग में एक चक्रवात बना हुआ है। राजस्थान के मध्य में भी हवा के ऊपरी भाग में एक चक्रवात बना हुआ है। पूर्व-पश्चिम ट्रफ विदर्भ तक बना हुआ है। इन पांच वेदर सिस्टम के कारण बंगाल की खाड़ी के अलावा अरब सागर से भी नमी आने का सिलसिला शुरू हो गया है। इस वजह से रुक-रुक बारिश हो रही है और सोमवार को दोपहर के बाद राजधानी सहित अन्य जिलों में गरज-चमक के साथ बारिश होने की संभावना है।  

Dakhal News

Dakhal News 12 July 2021


bhopal, 6 people, same family died,due to electrocution

भोपाल/छतरपुर। मध्यप्रदेश में छतरपुर जिले के विजावर थाना क्षेत्र अंतर्गत ग्राम महुआझाला में रविवार सुबह शौचालय के लिए टैंक की खुदाई करते समय करंट लगने से एक ही परिवार के छह लोगों की मौत हो गई। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने विद्युत आघात से छह लोगों की मृत्यु पर शोक व्यक्त किया है। उन्होंने ईश्वर से दिवंगत आत्माओं को अपने श्रीचरणों में स्थान तथा शोक संतप्त परिवारों को यह आघात सहने की शक्ति देने की प्रार्थना की है। मुख्यमंत्री चौहान ने ट्विटर के माध्यम से कहा, "छतरपुर के थाना बिजावर, महुआ झाला गांव में शौचालय निर्माण के लिए मिट्टी खोदने के दौरान अहिरवार समुदाय के 6 लोगों की करंट लगने से निधन का दुखद समाचार मिला। ईश्वर से दिवंगत आत्माओं की शांति और परिजनों को यह दुःख सहन करने की शक्ति देने की प्रार्थना करता हूं।"जानकारी के मुताबिक रविवार सुबह करीब 8 बजे परिवार के सदस्य शौचालय निर्माण के लिए मिट्टी खोदने का काम कर रहे थे। इस दौरान करंट की चपेट में आने से 6 लोगों की मौत हो गई। वहीं दो लोगों की हालत गंभीर बताई जा रही है। बिजावर एसडीपीओ सीताराम अवस्या ने बताया कि ग्राम महुआझाला में अहिरवार परिवार के लोग शौचालय के टैंक का कुछ काम कर रहे थे, इस दौरान करंट फैल गया, जिसकी चपेट में आकर 6 लोगों की मौत हो गई, जबकि दो लोगों की स्थिति गंभीर बनी हुई हैं। जानकारी के मुताबिक परिवार के लोग टैंक से पानी निकालने के लिए लाइट लगा रहे थे। इस दौरान एक व्यक्ति को करंट लगा। उसे बचाने की कोशिश में एक-एक कर छह लोगों की मौत हो गई।जानकारी लगते ही थाना प्रभारी मुकेश ठाकुर पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंचे और डायल हंड्रेड की मदद से सभी को बिजावर के स्वास्थ्य केंद्र पहुंचाया, जहां चिकित्सकों ने छह लोगों को मृत घोषित कर दिया। पुलिस मामले की जांच में जुटी है। मरने वालों के नाम लक्षमण अहिरवार (55) पुत्र रमुआ, शंकर अहिरवार (35) पुत्र हल्ली अहिरवार, मिलन अहिरवार (25) पुत्र हल्लू, नरेंद्र (20) पुत्र जगन अहिरवार, रामप्रसाद (30) पुत्र हल्ली अहिरवार और विजय (20) पुत्र जगन अहिरवार बताये गये हैं। छतरपुर कलेक्टर शीलेन्द्र सिंह ने बताया कि मुख्यमंत्री के निर्देशानुसार बिजावर के महुआझाला ग्राम में बिजली करंट दुर्घटना के चलते पांच मृतकों की पत्नियों को चार-चार लाख और एक मृतक के पिता को दो लाख रुपये की राहत राशि देने की घोषणा की गई है।

Dakhal News

Dakhal News 11 July 2021


Dhar, 8-year-old boy, dies due to leopard attack

धार। जिले के अमझेरा थाना अंतर्गत मांगोद मनावर रोड पर भैरव घाटी के नजदीक गांव बावड़ी खोदरा में रहने वाले एक 8 वर्षीय बालक तेंदुए के हमले से मौत हो गई। सूचना मिलने पर पुलिस और वन विभाग की टीम मौके पर पहुंची और मामले की जांच शुरू की। जानकारी के अनुसार बुधवार रात ग्राम बावड़ी खोदरा मे 8 वर्षीय बालक राज पुत्र अनिल हटीला अपने परिवार घर के बाहर सोया था, तभी तेंदुआ बिना आहट के उसे खींचकर एक खाई में ले गया और मार दिया। गुरुवार सुबह परिजन जागे और बालक नहीं दिखा तो उसकी खोज शुरू की। इस दौरान एक खाई में उसका क्षत विक्षिप्त शव पड़ा मिला। घटना की जानकारी लगते ही वन विभाग व पुलिस विभाग की टीम मौके पर पहुंची और घटना घटनास्थल का मुआयना करते हुए शव को पोस्टमार्टम के लिए अमझेरा स्वास्थ्य केंद्र लाया गया, मामले में पुलिस ने मर्ग कायम कर जांच प्रारंभ कर दी है।

Dakhal News

Dakhal News 8 July 2021


indore,Explosion inside house, Mhow Cantt area, husband and wife

इंदौर। जिले के महू छावनी क्षेत्र के रिहायशी इलाके खान कालोनी में गुरुवार सुबह एक घर में जोरदार धमाका हुआ। गेट नंबर 5 के सामने स्थित घर में हुए इस धमाके में एक ही परिवार के तीन लोग घायल हो गए, जिनमें पति-पत्नी और एक छोटा बच्चा शामिल है। धमाके की वजह घर के अंदर गैस सिलिंडर का फटना बताई जा रही है, लेकिन घर में सिर्फ एक ही गैस की टंकी थी और वह सही सलामत मिली है। घायलों को मालवा हास्पिटल में भर्ती कराया गया था, जहां से महिला और बच्चे को इंदौर रेफर कर दिया गया है। प्राप्त जानकारी के अनुसार धमाका गुरुवार सुबह करीब 8:30 बजे समीर नाम के व्यक्ति के घर पर हुआ। धमाका इतना जोरदार था कि घर की दीवार टूट कर कुछ फुट दूर जा गिरी। धमाके के वक्त घर में सलीम, उसकी पत्नी नसरीन और बेटा थे। हालांकि धमाके की वजह संदिग्ध नजर आ रही है क्योंकि घर में गैस की एक ही टंकी थी और वह अब भी रखी हुई है। पुलिस ने इस बारे में सलीम से कई सवाल भी किए लेकिन वह इनका साफ-साफ जवाब नहीं दे सका। पुलिस के मुताबिक ऐसे में फिलहाल वजह स्पष्ट नहीं हो सकी है। पड़ोसियों के मुताबिक धमाका इतना जोरदार था कि उसकी आवाज काफी दूर तक सुनाई दी थी। पुलिस फिलहाल मामले की जांच कर रही है।

Dakhal News

Dakhal News 8 July 2021


guna,  faces of the farmers blossomed , rain since morning

गुना। गुना में गुरुवार सुबह से शुरू हुई बारिश से किसानों के चेहरे खिल गए हैं। समय से पहले मानसून आने के बाद भी पानी को तरसती जमीन को अब जाकर सुकून मिला है। सुबह से ही जिले के कई इलाकों में तेज तो कई जगह मध्यम बारिश का दौर शुरू हुआ है। कृषि विभाग ने किसानों को सलाह दी है कि चार इंच बारिश होने के बाद ही सोयाबीन की बोवनी करें। इस बार जिले में सोयाबीन का रकबा घटा है। वहीं उड़द और मक्के के रकबे में बढ़ोत्तरी हुई है। बंगाल की खाड़ी में बने सिस्टम के बाद बुधवार से ही जिले में बारिश की संभावनाएं दिखने लगीं थी। गुरुवार को सुबह से ही बारिश का दौर शुरू हुआ। सबसे तेज बारिश विदिशा से सटे आरोन क्षेत्र में हुई। लगभग एक घंटे तक झमाझम बारिश हुई। वहीं शहर में माध्यम बारिश सुबह से ही होती रही। रुक-रुक कर कई बार हल्की बारिश का दौर चलता रहा। कृषि विभाग द्वारा किसानों को खरीफ फसल के संबंध में उपयोगी सलाह दी है। कृषि विभाग द्वारा दी गयी जानकारी अनुसार पर्याप्त वर्षा यानि 4 इंच वर्षा होने पर ही किसान सोयाबीन की बुवाई का कार्य करें। क्योंकि पानी की कमी के कारण अंकुरण न होने से बीज, उर्वरक पर लगायी गई लागत बेकार हो जाने से आर्थिक नुकसान होता है। कृषि विभाग द्वारा किसानों को सलाह दी गयी है कि जिन किसानों ने पूर्व में सोयाबीन की बुबाई कर दी है, परन्तु पर्याप्त वर्षा न होने के कारण फसल का अंकुरण या विकास ठीक से नहीं हुआ है, वह दूसरी बार बुबाई करने की स्थिति में कम अवधि वाली सोयाबीन या मूंग, उडद, तिल फसलों की बुबाई करें। जिन किसानों द्वारा ग्रीष्मकालीन मूंग की फसल में खरपतवारनाशक दवाई इमेजाथायपर का उपयोग किया गया है, उस खेत में मक्का की फसल की बुबाई न करें, क्योंकि ईमेजाथायपर दवाई का उपयोग से सकरी पत्ती वाले खरपतवारों का नियंत्रण होता है। ऐसे खेत में मक्का की बुबाई करने से अंकुरण की समस्या एवं मक्का की फसल को नुकसान होने की संभावना अधिक होती है। खरीफ फसलों की 15 से 20 दिन की फसल अवस्था पर निदाई, गुडाई या कुल्पा चलाकर खरपतवार नियंत्रण का कार्य अवश्य करें।

Dakhal News

Dakhal News 8 July 2021


guna, District CEO ,observed mass fast,Bhikangaon CEO suicide

गुना। प्रदेश के खरगौन जिला अंतर्गत भीकनगांव जनपद सीईओ राजेश बाहेती द्वारा राजनीतिक दबाव वश आत्महत्या करने के मामले में मप्र सीईओ संघ ने सोमवार को सामूहिक उपास रखकर धरना दिया। इस दौरान मुख्य कार्यपालन अधिकारी संघ द्वारा जनपद पंचायत गुना के परिसर में धरना दिया। जिसमें जनपद सीईओ अधिकारियों के अलावा राजस्व एवं जनपद के अन्य अधिकारी-कर्मचारी भी शामिल हुए। धरने में संघ ने स्व. राजेश बाहेती की आत्महत्या के पीछे राजनैतिक दबाव बताया। इस दौरान मांग की गई कि सीईओ राजेश बाहेती के सुसाइड नोट में जिन लोगों के नाम है उनके विरुद्ध वैधानिक कार्रवाई करते हुए गिरफ्तार किया जाए। इस अवसर पर संघ के पदाधिकारियों ने बताया कि प्रदेशभर के जनपद सीईओ संसाधनों के अभाव में लगातार काम करते हैं। जनपद कार्यालयों में बडी संख्या में जनप्रतिनिधियों के साथ लोगों का जमावडा लगा रहता है। कई बार अनावश्यक मांगों के लिए दबाव बनाया जाता है। ऐसी परिस्थितियों में सीईओ की सुरक्षा की कोई व्यवस्था नहीं है। कई अधिकारी कर्मचारियों के साथ मारपीट होती रहती है। अब तक न तो प्रोटेक्शन एक्ट लागू किया गया है और न ही सुरक्षा गार्ड उपलब्ध कराए गए हैं। संघ की मांग है कि सीईओ की मौत के मामले में आवश्यक कार्रवाई किया जाए। आत्महत्या के लिए उकसाने वाले जिम्मेदार लोगों पर तत्काल कार्यवाही करते हुए उन्हें गिरफ्तार किया जाए। इस दौरान जिलेभर के जनपद पंचायतों के अधिकारी-कर्मचारी, पंचायत के सचिव एवं रोजगार सहायक भी अनशन में शामिल हुए।

Dakhal News

Dakhal News 5 July 2021


bhopal,Plantation campaign ,successful only ,maximum public participation

भोपाल। अधिकाधिक जन सहभागिता से पौधारोपण अभियान सफल होगा। आमजन, सामाजिक संस्था, जनप्रतिनिधियों, धार्मिक प्रमुखों, एनजीओ, मीडिया को जोड़कर उत्तरदायित्व और पौधों की उत्तरजीवित्ता की भावना के साथ पौधारोपण करने से ही फलदायी परिणाम मिलेंगे। यह बात संभागायुक्त कवीन्द्र कियावत ने सोमवार को आगामी 07 से 14 जुलाई को चलने वाले पौधारोपण अभियान की समीक्षा बैठक में कही। वीडियो कॉंफ्रेंस के माध्यम से सभी जिलों एवं नगरीय निकायों से पौधारोपण की जानकारी ली गई। बैठक में सीसीएफ रवीन्द्र सक्सेना सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे। कमिश्नर कियावत ने कहा कि सभी विभाग अपने संस्थानों, स्कूल परिसरों, सार्वजनिक आयोजन स्थलों, आगनबाड़ियों प्रमुख स्वास्थ्य एवं उप स्वास्थ्य केन्द्रों, सहकारी समिति परिसरों, गोदाम परिसरों, शिक्षण संस्थानों, शासकीय कार्यालय परिसरों में सही अर्थों में पौधों की उत्तजीवित्ता के लक्ष्य के साथ पौधारोपण करें। प्रत्येक का हो व्यक्तिगत जुड़ाव पौधारोपण में हर संस्था के प्रत्येक व्यक्ति का पौधे के रोपण के साथ ही उसके पोषण, सिंचाई और संरक्षण के प्रति व्यक्तिगत जुड़ाव हो तभी ये पौधे कालांतर में वृक्ष बनकर हमारी भावी पीढ़ी को स्वस्थ जीवन एवं स्वच्छ पर्यावरण दे पाएंगे। पौधे हमारे जीवन के हर पहलू को प्रभावित करते हैं इसीलिये आदिकाल से इनके संरक्षण के लिये पूजा और इबादत का प्रचलन रहा है जिसके पीछे सह अस्तित्व का दर्शन है। पौधे और वृक्ष हैं तो मानव जीवन है। उन्होंने निर्देश दिए कि प्राथमिकता के आधार पर गुणवत्तायुक्त सार्थक पौधारोपण करें और समाज की इकाई मानव जीवन की गुणवत्ता बढ़ाने में योगदान दें। बताया गया कि पौधारोपण के लिये 07 से 14 जुलाई तक लगातार सघन अभियान चलाया जाएगा। गांव एवं शहर में नगरीय प्रशासन, राजस्व, स्कूल शिक्षा, सहकारिता, वन एवं उद्यानिकी विभाग सहित अन्य सभी विभाग पौधारोपण करेंगे। प्रमुख सड़कों, राष्ट्रीय और राज्य राजमार्गों के दोनों और तथा मध्य में तथा पीडब्ल्यूडी शहर के मार्गों के दोनों और पौधारोपण करेंगे महिला एवं बाल विकास, स्कूल शिक्षा एवं उच्च शिक्षा विभाग, आंगनबाड़ी, स्कूलों एवं महाविद्यालय परिसरों के अलावा विद्यार्थियों के माध्यम से हर घर –एक वृक्ष का शत-प्रतिशत लक्ष्य प्राप्त करेंगे। अधिकाधिक पौधारोपण के लिये कारगर एवं सार्थक प्रयास के निर्देश दिये गये। डोर-टू-डोर सर्वे कर योजनावार पात्र हितग्राहियों की जानकारी जुटाएं संभाग में सरकारी योजनाओं और कार्यक्रमों का हर पात्र घर और व्यक्ति तक लाभ सुनिश्चित करने के लिए संभागायुक्त कवीन्द्र कियावत ने अनूठी पहल की है। अब हितग्राही मूलक योजनाओं से संबंधित विभाग प्रत्येक योजना से लाभांवितों का घर-घर सर्वे करेंगे और जो छूट गए हैं उन्हें शामिल कर योजना का लाभ दिलवाना सुनिश्चित किया जाएगा। कमिश्नर कियावत ने कहा कि शासन द्वारा चलाई जा रही जनकल्याणकारी योजना का लाभ गरीब और जरूरतमंद वर्ग के प्रत्येक पात्र हितग्राहियों को मिले। छूटे हुए सभी पात्र हितग्राहियों को लाभांवित करना भी हमारे दायित्व का अहम हिस्सा है। उन्होंने कहा कि सभी शासकीय योजनाओं का लोगों को पात्रतानुसार लाभ मिल रहा है कि नहीं, छूटे हुए हितग्राहियों को लाभांवित करने के लिये कार्य योजना बनाएं। सभी विभाग अपनी योजनाओं के पात्र हितग्राहियों को लाभांवित करने के लिये डोर-टू-डोर सर्वे कराएं। सर्वे टीम को एक दिवसीय प्रशिक्षण देकर शत-प्रतिशत परिणामोत्पादक सर्वे कराया जाए। सभी विभाग अपनी सीमित और असीमित लक्ष्य वाली सभी योजनाओं के पात्र हितग्राहियों को लाभांवित करें। सर्वे टीम अपने साथ सटीक जानकारी प्राप्त करने के लिये निश्चित फार्मेट के फॉर्म अपने साथ रखेगी साथ ही पात्र हितग्राही से तत्क्षण फार्म भरवाएगी। जानकारी का फार्मेट सीधी सरल भाषा में हो ताकि गांव के निचले स्तर तक आसानी से सटीक सर्वे हो सके। अंतर्सबंधित विभाग अपने फॉर्म मिलकर बनाएंगे ताकि एक ही फॉर्म से हितग्राही उन सभी विभाग की योजना का लाभ ले सकें उन्हें और सभी कार्यालयों के बार-बार चक्कर न लगाना पड़े।

Dakhal News

Dakhal News 5 July 2021


panna, Deputy Ranger ,Forest Guard ,caught taking ,four thousand bribes

  पन्ना। सागर लोकायुक्त ने शनिवार को कार्यवाही करते हुए डिप्टी रेंजर एवं फारेस्ट गार्ड को रंगे हांथों चार हजार की रिश्वत लेते हुए गिरफ्तार किया है। लोकायुक्त डीएसपी सागर राजेश खेड़े से हासिल जानकारी के अनुसार आरोपियों ने रिश्वत की यह रकम शिकायतकर्ता को फड़मुंशी बनाए जाने की नाम पर ली थी। शिकायत पर शनिवार दोपहर 3 बजे वन चौंकी मडवा में लोकायुक्त की उक्त कार्यवाही की गई। प्राप्त जानकारी के अनुसार आवेदक कमलकिशोर पिता झगडू कुशवाहा निवास ग्राम कछरन, पंचायत मनकी तह. रैपुरा जिला पन्ना की शिकायत पर लोकायुक्त सागर पुलिस ने कार्रवाई की है। जिसमें आरोपी .श्रवण कुमार शुक्ला वनपाल (डिप्टी रेंजर)उप परिक्षेत्र मड़वा, परिक्षेत्र मोहन्द्रा, एवम लोकेन्द्रसिंह पिता जगत सिंह राजपूत वनरक्षक वन चौकी मड़वा वन परिक्षेत्र मोहन्द्रा हैं। इनके ऊपर शिकायतकर्ता द्वारा आरोप लगाया गया था कि आवेदक से तेंदूपत्ता फड़मुंशी का कार्य करते रहने देने के एवज में 4000 रुपये रिश्वत की मांग की थी। शनिवार को आरोपी यही राशि लेते हुए पकड़े गए।  

Dakhal News

Dakhal News 3 July 2021


bhopal,IPS Purushottam Sharma, who assaulted ,his wife, got in trouble

भोपाल। गर्लफ्रेंड के फ्लैट में पकड़े जाने के बाद पत्नी से मारपीट करने के मामले में निलंबित आईपीएस अफसर पुरुषोत्तम शर्मा के खिलाफ सरकार ने फिर एक्शन लिया है। आईपीएस पुरुषोत्तम शर्मा की विभागीय जांच शुरू हो गई है, राज्य सरकार ने एक अन्य मामले में भी आईपीएस पुरुषोत्तम शर्मा से 15 दिन में जवाब मांगा है। इस बार उन्हें डायरेक्टर लोक अभियोजन पदस्थ रहते नियम विरुद्ध कर्मचारियों का अटैचमेंट करने के मामले में चार्जशीट दी गई है। इससे पहले पत्नी से मारपीट करने के मामले शर्मा को चार्जशीट दी गई थी। इसका जवाब देने के बजाय शर्मा ने कोर्ट में चुनौती दे दी थी। बीते 28 सितंबर 2020 को पत्नी से मारपीट का वीडियो वायरल हुआ था, इस वीडियो पर शासन ने आईपीएस पुरुषोत्तम शर्मा को निलंबित कर दिया था। पुरुषोत्तम शर्मा के डायरेक्टर लोक अभियोजन के कार्यकाल से जुड़े एक मामले की फाइल सरकार ने फिर खोल दी है, इस मामले में सरकार ने चार्जशीट भेजकर उनसे 15 दिन के अंदर जवाब मांगा है। शर्मा पर आरोप है कि उन्होंने डायरेक्टर जनरल अभियोजन रहते हुए नियमों के विपरीत जाकर करीब 250 अधिकारियों व कर्मचारियों का अटैचमेंट किया था। दरअसल, लोक अभियोजन में डायरेक्टर रहते हुए शर्मा ने नियमों के विपरीत जिला लोक अभियोजन अधिकारी, सहायक लोक अभियोजन अधिकारी समेत विभाग के कुछ और अधिकारियों को एक जिले से दूसरे जिले में अटैच कर दिया था, जबकि नियमों में अटैचमेंट की कोई व्यवस्था ही नहीं है। गौरतलब है कि पुरूषोत्तम शर्मा को कमलनाथ सरकार में हनी ट्रैप केस का एसआइटी चीफ बनाया गया था, इतना ही नहीं उन्हें साइबर क्राइम के साथ कई महत्वपूर्ण पद भी दिए गए थे, इसके बाद भाजपा की सरकार में पुरुषोत्तम शर्मा का पत्नी के साथ मारपीट करने और एक महिला के साथ वीडियो सामने आया, यह वीडियो पिछले साल 28 सितंबर को सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हुआ। इसी बीच इसमें वे पत्नी से मारपीट करते नजर आ रहे थे। सरकार ने वीडियो के आधार पर पुरुषोत्तम शर्मा को निलंबित कर दिया था।  

Dakhal News

Dakhal News 3 July 2021


indore, Nurses

  इंदौर। अपनी 12 सूत्रीय मांगों को लेकर प्रदेश की नर्सें बीते 3 दिनों से हड़ताल पर हैं। हड़ताली नर्सों को एनआरएचएम के साथ-साथ राधास्वामी सेंटर की नर्सों का भी साथ मिल गया है, जिसके चलते चौथे दिन शनिवार को हड़ताल ने जोर पकड़ लिया है। एमवाय अस्पताल पर चल रहे प्रदर्शन में नर्सों ने कोरोना वॉरियर्स सम्मान को लहरा-लहराकर सरकार के खिलाफ नारेबाजी की और कहा कि आज दोपहर को वे पीसी सेठी अस्पताल में ये अवार्ड मुख्यमंत्री शिवराजसिंह को वापस लौटाएंगी। इस बीच भोपाल से खबर है कि एसीएस ने 5 जुलाई को नर्सिंग एसोसिशन को चर्चा के लिए बुलाया है। शनिवार सुबह करीब पांच सौ हड़ताली नर्सें एमवाय अस्पताल के गेट पर पहुंची और जमकर नारेबाजी की। स्थाई स्टाफ नर्सों का एक बड़ा समूह अभी भी अपनी मांगों पर अडिग है। उनकी मांग है कि हमें भी अन्य प्रदेशों की तरह दूसरी ग्रेड दी जाए। पुरानी उच्च स्तरीय पेंशन योजना लागू की जाए तथा कोरोना काल में जिन नर्सों की मौत हुई है उनके परिजनों को 50 लाख रु. की राशि दी जाए तथा उनके आश्रितों को अनुकंपा नियुक्ति दी जाए जबकि दूसरा गुट अस्पताल में काम कर रहा है। दूसरी ओर एनआरएचएम की अस्थाई 230 नर्सें नौकरी से निकाले जाने के विरोध में प्रदर्शन कर रही हैं। अब इनकी मांग है कि हमें स्थाई या संविदा नियुक्ति दी जाए क्योंकि हमने कोरोना महामारी में जान जोखिम में डालकर काम किया और कई साथियों को खोया है।इस बीच राधा स्वामी सेंटर से जुड़ी एनएचएम की नर्सें भी हड़ताल में शामिल हो गईं और स्थाई नियुक्ति की मांग कर रही हैं। हालांकि अभी सेंटर में ज्यादा मरीज नहीं है क्योंकि संक्रमण भी कम है। फिर भी तीसरी लहर आई तो फिर फजीहत हो सकती है। इसी कड़ी में अब वे 150 से ज्यादा स्टाफ नर्सें जिनकी दो महीने पहली ही स्थाई रूप से पोस्टिंग हुई है उन्होंने भी विरोध करना शुरू कर दिया है। उनका कहना है कि हमें कैंसर, टीबी अस्पतालों में काम करने का अनुभव नहीं है। ऐसे में हम कैसे मरीजों की सेवा करें। इनके सहित अन्य परेशानियां भी हैं। बहरहाल, वे नर्सें जिन्हें कोरोना वॉरियर्स का सम्मान मिला है वे सभी शनिवार को मुख्यमंत्री को अवार्ड लौटाने की तैयारी में हैं। इधर, हड़ताली नर्सों ने जूनियर्स डॉक्टर एसोसिएशन को भी अपनी पीड़ा बताकर समर्थन की अपील की है।    

Dakhal News

Dakhal News 3 July 2021


Indore, 100% fee , waived , children of parents , died from Corona

इंदौर। इंदौर जिले में जिन बच्चों के अभिभावकों की कोरोना से मृत्यु हो चुकी है, उनकी स्कूलों से फीस माफ कराने के लिए एक अभिनव योजना सांसद सेवा संकल्प शुरू की गई है। यह योजना जिला प्रशासन के सहयोग से क्रियान्वित की जा रही है। इस योजना के अंतर्गत ऐसे बच्चे जिनके अभिभावकों की कोरोना से मृत्यु हुई है, उनकी स्कूली फीस शत-प्रतिशत माफ कराई जायेगी।    इस संबंध में बुधवार को इंदौर के सांसद शंकर लालवानी और कलेक्टर मनीष सिंह ने शहर के निजी स्कूलों के संचालकों से चर्चा की। बैठक में अधिकांश स्कूलों ने कोरोना से मृत अभिभावकों के बच्चों की शत-प्रतिशत फीस माफ करने की सहमति प्रदान की। बैठक में संयुक्त कलेक्टर तथा जिला शिक्षा अधिकारी रवि सिंह, सहायता संस्था के अनिल भण्डारी, मुस्कान ग्रुप के संदीपन आर्य, सीबीएसई स्कूलों के सहोदय ग्रुप के अध्यक्ष यूके झा सहित विभिन्न स्कूलों के संचालक मौजूद थे।    बैठक में सांसद शंकर लालवानी ने योजना की जानकारी देते हुये बताया कि यह योजना कोरोना मृत हुये अभिभावकों के बच्चों की स्कूली शिक्षा को निरंतर बनाये रखने तथा बच्चों का आत्मविश्वास बढ़ाने के लिये शुरू की गई है। उन्होंने कहा कि हम सब का दायित्व है कि ऐसे वक्त में जब बच्चों ने अपने अभिभावकों को खोया है, हम उनके अभिभावक बनकर मदद करें।    उन्होंने सीबीएसई सहित सभी पाठ्यक्रमों के स्कूल संचालकों से आग्रह किया कि वे अपने यहां ऐसे सभी बच्चों की शत-प्रतिशत फीस माफ करें। इस संबंध में उन्होंने बताया कि सभी स्कूलों को पत्र लिखकर इस संबंध में आग्रह किया गया है। वेबसाइट बनाकर ऐसे बच्चों की सूची आवेदन मंगाकर तैयार की जा रही है। उन्होंने कहा कि अगर और भी बच्चे संज्ञान में आते है, तो स्कूल अपने स्तर से भी मदद करें। श्री लालवानी ने बताया कि इसी तरह सभी कॉलेजों और कोचिंग क्लासेस के संचालकों से भी आग्रह कर उनके यहां अध्ययनरत बच्चों की जिनके अभिभावकों की कोरोना से मृत्यु हुई है फीस माफ कराने का प्रयास किया जायेगा।   बैठक में कलेक्टर मनीष सिंह ने कहा कि इंदौर की गौरवशाली परम्परा रही है कि संकट के वक्त सभी मिलजुल कर जरूरतमंदों की मदद करते है। इसी परम्परा को जरूरतमंद बच्चों की फीस माफ कर आगे बढ़ाया जाये। योजना का प्रभावी क्रियान्वयन हो और अधिक से अधिक बच्चों को इसका लाभ मिले यह सुनिश्चित किया जाये। उन्होंने कहा कि बच्चों का मनोबल बनाये रखें। उन्हें अपने-अपने स्तरों से और अन्य आवश्यक मदद भी मुहैया कराई जाये। बैठक में सहायता संस्था के  अनिल भण्डारी ने प्रारंभ में योजना की रूपरेखा बताई।   बैठक में मिशनरी, विभिन्न ट्रस्ट और संस्थाओं आदि द्वारा संचालित सीबीएसई के स्कूलों, अन्य पाठ्यक्रमों के स्कूलों के संचालकों ने अपनी पूर्ण सहमति दी कि वे ऐसे बच्चों की हर संभव मदद करेंगे।

Dakhal News

Dakhal News 30 June 2021


Dewas, Revealed , heinous murder , five people, including girlfriend

देवास। जिले के नेमावर थाना क्षेत्र में एक ही परिवार के पांच लोगों के जघन्य हत्याकांड का बुधवार को पुलिस ने फर्दाफाश कर दिया है। मामले में पुलिस ने सात आरोपितों को गिरफ्तार किया है।   पुलिस अधीक्षक डा. शिवदयाल सिंह ने बुधवार को प्रेसवार्ता में मामले का पर्दाफाश करते हुए बताया कि गत 13 मई की रात नेमावर बस स्टैंड के पास रहने वाली ममता बलाई अपनी दो बेटी रूपाली और दिव्या तथा उसकी भतीजी नीतू के पुत्र पवन व पुत्री पूजा सहित अचानक गायब हो गई थी। ममता की बेटी भारती ने पुलिस को सूचना दी। इसके बाद 17 मई को गुमशुदगी दर्ज कर पुलिस ने मामले में जांच शुरू की। जांच के दौरान सभी संदिग्धों से पूछताछ तथा तकनीकी आधार पर जानकारी लेकर सभी को ढूंढने का प्रयास किया गया। इस बीच 27 मई को नीतू थाने पहुंची और बेटे पवन और बेटी पूजा के अपहरण की आशंका रूपाली पर जताई, जिसके बाद धारा 363 में प्रकरण दर्ज कर मामले की विवेचना की गई।   पुलिस ने होशंगाबाद, हरदा, खंडवा, चोरल, भोपाल, सिहोर तथा इंदौर के कई स्थानों पर सर्चिंग की। इस दौरान मुखबिर की सूचना पर संदेही सुरेंद्र राजपूत से कड़ाई से पूछताछ की गई तो वह टूट गया और उसने पुलिस को बताया कि रूपाली उसकी प्रेमिका थी। रूपाली द्वारा मंगेतर दिव्यांशी के विरूद्ध इंटाग्राम पर गलत पोस्ट करने तथा शादी के लिए दबाव डालने से क्षुब्ध होकर सुरेंद्र ने भाई वीरेंद्र राजपूत तथा विवेक तिवारी, राजकुमार, मनोज कोरकू, करण कोरकू के साथ मिलकर रूपाली और उसके परिजनों की हत्या कर शवों को अपने खेत के किनारे बने 12 फीट गहरे गड्ढे में दबा दिया तथा रूपाली का मोबाइल खंडवा में रहने वाले साथी राकेश निमौरे को देकर विभिन्न दिनांकों में अलग-अलग जगह से इंस्टाग्राम पर पोस्ट डालकर पुलिस को भ्रमित करने का प्रयास किया।   एसपी ने बताया कि घटना में शामिल सभी सातों आरोपित सुरेंद्र राजपूत, वीरेंद्र राजपूत, विवेक तिवारी, राजकुमार, मनोज कोरकू, करण कोरकू तथा राकेश निमौरे को गिरफ्तार कर लिया गया है। एसपी ने आरोपितों को गिरफ्तार करने में शामिल पुलिस टीम को पुरस्कृत करने की घोषणा की है।

Dakhal News

Dakhal News 30 June 2021


bhopal, Vaccination, more than 2 crore 3 lakh 83 thousand ,people in MP

भोपाल। मध्यप्रदेश में कोरोना के टीके को लेकर लोगों में भारी उत्साह देखने को मिल रहा है और वे टीकाकरण केन्द्रों पर पहुंचकर कोरोना से बचाव के लिए वैक्सीन लगवा रहे हैं। मध्यप्रदेश में अब तक 2 करोड़ 3 लाख 83 हजार से अधिक लोगों का वैक्सीनेशन हो चुका है।    यह जानकारी स्वास्थ्य विभाग द्वारा बुधवार को ट्वीट के माध्यम से दी। साथ ही यह अपील भी की गई है कि टीका सुरक्षा कवच है आपके और आपके परिवार का। अगर आप पात्र हैं तो टीकाकरण अवश्य कराएं।   गौरतलब है कि अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर देश में शुरू हुए कोरोना टीकाकरण महाअभियान में पहले ही दिन में मध्यप्रदेश में रिकार्ड वैक्सीनेशन हो रहा है। इसमें मुख्यमंत्री चौहान के नेतृत्व में प्रदेशवासियों को टीका लगवाने के लिए प्रेरित करने में मंत्रियों से लेकर विभिन्न संगठनों, जनप्रतिनिधयों के साथ गण्यमान्य भी अपना महत्वपूर्ण योगदान दे रहे हैं। सभी के सहयोग से टीकाकरण महाअभियान का प्रदेश में सफल क्रियान्वयन हो रहा है। इस महाअभियान के अंतर्गत मध्यप्रदेश में छह दिन में करीब 51 लाख लोगों ने टीका लगवाया।   स्वास्थ्य विभाग द्वारा जानकारी दी गई है कि टीकाकरण महाअभियान में पहले दिन 21 जून को 17.42 लाख, दूसरे दिन 23 जून को 11.59 लाख, तीसरे दिन 24 जून को 7.33 लाख, चौथे दिन शनिवार, 26 जून को 9 लाख 64 हजार 756 और पांचवें दिन सोमवार, 28 जून को 4 लाख 48 हजार और मंगलवार, 29 जून को रात नौ बजे तक 94 हजार लोगों का टीकाकरण किया गया। महा-अभियान में 30 जून तक 50 लाख टीके लगाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया था, जो पहले ही पूर्ण हो गया। मध्यप्रदेश में अब तक 2 करोड़ 3 लाख 83 हज़ार से अधिक लोगों को कोरोना से बचाव के टीके लग चुके हैं।   

Dakhal News

Dakhal News 30 June 2021


bhopal, Nurses took ,one day group leave, warning of indefinite strike

अनूपपुर। लम्बित मांगों को लेकर नर्सेस एसोसिएसन मप्र के आह्वान पर जिले की सभी सदस्य सोमवार को सामूहिक अवकाश पर रहीं। इसके साथ ही मांगें पूरी नहीं होने की दशा में 30 जून से अनिश्चितकालीन हड़ताल की चेतावनी दी गई। नर्सों के अवकाश के कारण जिला चिकित्सालय सहित जिले के अन्य स्वास्थ्य केंद्रों की सेवाओं में असर पड़ा। स्वास्थ्य सेवाओं के लिए संविदा और कोविड नर्सों से कार्य कराया गया।   नर्सेस एसोसिएसन संघ द्वारा गत दिवस ज्ञापन सौंपा कर कोविड-19 के दौरान पूर्व में अपनी मांगों को लेकर दिए गए कई ज्ञापन के बाद भी सरकार द्वारा मांगों को पूरा नहीं करने के बाद अपने दायित्वों का जिम्मेदारी पूर्ण निर्वहन नहीं करने का आरोप लगाते हुए 28 जून को मप्र में सभी नर्सेस द्वारा सामूहिक अवकाश और 30 जून को अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जाने की चेतवनी दी थी।   संघ की मांगों के प्रति शासन की बेरूखी को देखते हुए 13 सूत्री मांगों को लेकर आंदोलन करने की राह के दूसरे चरण में 28 जून को सामूहिक अवकाश होने से जिले की स्वास्थ्य सेवाओं में असर पड़ा। जिलें में 154 जिसमें जिला चिकित्सालय में 95 नर्सो ने सामूहिक अवकाश लिया। इस स्थिति को सम्हलनें के लिए संविदा और कोविड नर्सो से जिला चिकित्सालय सहित अन्य स्वास्थ्य केंद्रो में कार्य कराया गया। अगर मांगो पर विचार नहीे किया जाता तो 30 जून को अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चली जाएगी।   नर्सेस एसोसिएसन की मांगों में उच्च स्तरीय वेतनमान, पुरानी पेंशन योजना लागू, कोरोना काल में शहीद हुए नर्सिंग स्टाफ के परिजनों को अनुकंपा नियुक्ति और कोरोना योद्धा अवार्ड सम्मान, नसों को सम्मानित करते हुए अग्रिम 2 वेतन वृद्धि का लाभ, 2018 में आदेश भर्ती के नियमों में संसोधन नियम हटाने, प्रतिनियुक्ति समाप्त कर स्थानातरण की प्रकिया शुरू, सरकारी कॉलेजों मे सेवारत रहते हुए नर्सेस को उच्च शिक्षा आयु बंधन हटाने, कोरोना काल में अस्थायी भर्ती हुई नर्सेस को नियमित करने, एक ही विभाग में समान कार्य के लिए समान वेतन, पदोन्नति, मेल नर्स की भर्ती, 7वीं पे कमीशन का लाभ सहित अन्य शामिल है।

Dakhal News

Dakhal News 28 June 2021


ujjain, Along with, Mahakaleshwar temple, Mangalnath and Harsiddhi temples

उज्जैन। शहर में सोमवार को महाकालेश्वर मंदिर सहित मंगलनाथ मंदिर एवं देवी हरसिद्धि मंदिर के पट दर्शन के लिए खोल दिए गए। आस्था का सैलाब मंदिरों में दर्शन के लिए उमड़ पड़ा। महाकालेश्वर मंदिर में आनेवाले भक्तों को अपनी आरटीपीसीआर रिपोर्ट अथवा टीका लगने पर प्रमाण पत्र दिखाना पड़ा। उसके बाद ही प्रवेश दिया गया।   महाकालेश्वर मंदिर में अब 2 जुलाई तक सभी स्लॉट बुक हो चुके हैं। भक्तों को ऑन लाइन पंजीयन के बाद ही दर्शन के लिए स्लॉट मिल रहे हैं। प्रत्येक दिन 3500 भक्तों को दर्शन करवाए जा रहे हैं। 500-500 भक्तों के 7-7 स्लॉट बनाए गए हैं। हर स्लॉट में कोरोना प्रोटोकाल का पालन करते हुए 2 घण्टे दर्शन में लग रहे हैं। सोमवार को सुबह 5 बजे से भक्त कियोस्क काउंटर पहुंच गए। शाम तक दर्शन का सिलसिला चलता रहा।    दर्शन का समय प्रात: 6 से रात्रि 8 बजे तक है। पहले दिन खास बात यह रही कि सशुल्क 250 रू. की रसीद कटवाकर दर्शन करनेवालों की संख्या शाम तक 2000 पहुंच गई थी। दर्शन करनेवाले भक्तों में दिल्ली,मुंबई,उत्तर प्रदेश के भक्तों की संख्या अधिक थी।

Dakhal News

Dakhal News 28 June 2021


bhopal,Maha Abhiyan, Vaccine shortage , MP, many centers closed

भोपाल। देशभर में अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर कोरोना वैक्सीनेशन महाअभियान की शुरूआत हुई थी। मध्यप्रदेश में इस महाअभियान को गंभीरता से लिया गया और यहा रिकार्ड वैक्सीनेशन हुआ। सरकार के प्रयास और सभी के सहयोग से वैक्सीनेशन महाअभियान में लोगों ने उत्साह के साथ टीकाकरण करवाया। अभी यह अभियान जारी है, लेकिन मप्र में वैक्सीन की कमी हो गई है, जिसके कारण, राजधानी भोपाल में सुबह से कई सेंटरों पर लोग भटकते नजर आए, लोगों का कहना है कि एक दिन पहले वैक्‍सीन लगने की जानकारी दे दी गई थी इसके बाद  जब सेंटरों पर पहुंचे तो बंद मिले, हालांकि सोमवार को 27 जिलों में कहीं-कहीं टीकाकरण हो रहा है।   स्वास्थ्य विभाग द्वारा सोमवार को ट्वीट के माध्यम से जानकारी दी गई है कि सम्पूर्ण प्रदेश में टीकाकरण की बेहतर कवरेज सुनिश्चित करने सतत प्रयास जारी हैं। वर्तमान में प्रदेश में वैक्सीन के 4 लाख डोज़ उपलब्ध हैं। ऐसे में उन 27 ज़िलों को प्राथमिकता से वैक्सीन के डोज उपलब्ध कराए गए हैं, जिनमें टीकाकरण का कवरेज अन्य ज़िलों की अपेक्षा कम है तथा निर्देश दिए गए हैं कि नागरिकों को जागरूक करें एवं वैक्सिनेशन कवरेज तेज़ी से बढ़ाएँ। सभी पात्र नागरिकों से अपील है कि भ्रम संशय में न आएँ, वैक्सिनेशन करवाकर स्वयं को एवं परिवार को सुरक्षा चक्र प्रदान करने में सहयोग करें।    

Dakhal News

Dakhal News 28 June 2021


bhopal,Maha Abhiyan, Vaccine shortage , MP, many centers closed

भोपाल। देशभर में अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर कोरोना वैक्सीनेशन महाअभियान की शुरूआत हुई थी। मध्यप्रदेश में इस महाअभियान को गंभीरता से लिया गया और यहा रिकार्ड वैक्सीनेशन हुआ। सरकार के प्रयास और सभी के सहयोग से वैक्सीनेशन महाअभियान में लोगों ने उत्साह के साथ टीकाकरण करवाया। अभी यह अभियान जारी है, लेकिन मप्र में वैक्सीन की कमी हो गई है, जिसके कारण, राजधानी भोपाल में सुबह से कई सेंटरों पर लोग भटकते नजर आए, लोगों का कहना है कि एक दिन पहले वैक्‍सीन लगने की जानकारी दे दी गई थी इसके बाद  जब सेंटरों पर पहुंचे तो बंद मिले, हालांकि सोमवार को 27 जिलों में कहीं-कहीं टीकाकरण हो रहा है।   स्वास्थ्य विभाग द्वारा सोमवार को ट्वीट के माध्यम से जानकारी दी गई है कि सम्पूर्ण प्रदेश में टीकाकरण की बेहतर कवरेज सुनिश्चित करने सतत प्रयास जारी हैं। वर्तमान में प्रदेश में वैक्सीन के 4 लाख डोज़ उपलब्ध हैं। ऐसे में उन 27 ज़िलों को प्राथमिकता से वैक्सीन के डोज उपलब्ध कराए गए हैं, जिनमें टीकाकरण का कवरेज अन्य ज़िलों की अपेक्षा कम है तथा निर्देश दिए गए हैं कि नागरिकों को जागरूक करें एवं वैक्सिनेशन कवरेज तेज़ी से बढ़ाएँ। सभी पात्र नागरिकों से अपील है कि भ्रम संशय में न आएँ, वैक्सिनेशन करवाकर स्वयं को एवं परिवार को सुरक्षा चक्र प्रदान करने में सहयोग करें।    

Dakhal News

Dakhal News 28 June 2021


bhopal,Maha Abhiyan, Vaccine shortage , MP, many centers closed

भोपाल। देशभर में अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर कोरोना वैक्सीनेशन महाअभियान की शुरूआत हुई थी। मध्यप्रदेश में इस महाअभियान को गंभीरता से लिया गया और यहा रिकार्ड वैक्सीनेशन हुआ। सरकार के प्रयास और सभी के सहयोग से वैक्सीनेशन महाअभियान में लोगों ने उत्साह के साथ टीकाकरण करवाया। अभी यह अभियान जारी है, लेकिन मप्र में वैक्सीन की कमी हो गई है, जिसके कारण, राजधानी भोपाल में सुबह से कई सेंटरों पर लोग भटकते नजर आए, लोगों का कहना है कि एक दिन पहले वैक्‍सीन लगने की जानकारी दे दी गई थी इसके बाद  जब सेंटरों पर पहुंचे तो बंद मिले, हालांकि सोमवार को 27 जिलों में कहीं-कहीं टीकाकरण हो रहा है।   स्वास्थ्य विभाग द्वारा सोमवार को ट्वीट के माध्यम से जानकारी दी गई है कि सम्पूर्ण प्रदेश में टीकाकरण की बेहतर कवरेज सुनिश्चित करने सतत प्रयास जारी हैं। वर्तमान में प्रदेश में वैक्सीन के 4 लाख डोज़ उपलब्ध हैं। ऐसे में उन 27 ज़िलों को प्राथमिकता से वैक्सीन के डोज उपलब्ध कराए गए हैं, जिनमें टीकाकरण का कवरेज अन्य ज़िलों की अपेक्षा कम है तथा निर्देश दिए गए हैं कि नागरिकों को जागरूक करें एवं वैक्सिनेशन कवरेज तेज़ी से बढ़ाएँ। सभी पात्र नागरिकों से अपील है कि भ्रम संशय में न आएँ, वैक्सिनेशन करवाकर स्वयं को एवं परिवार को सुरक्षा चक्र प्रदान करने में सहयोग करें।    

Dakhal News

Dakhal News 28 June 2021


bhopal,So far more than, 1 crore 98 lakh people ,vaccinated in MP

भोपाल। मध्यप्रदेश में कोरोना के टीके को लेकर लोगों में भारी उत्साह देखने को मिल रहा है और वे टीकाकरण केन्द्रों पर पहुंचकर कोरोना से बचाव के लिए वैक्सीन लगवा रहे हैं। मध्यप्रदेश में अब तक 1 करोड़ 98 लाख से अधिक लोगों का वैक्सीनेशन हो चुका है। यह जानकारी स्वास्थ्य विभाग द्वारा रविवार को ट्वीट के माध्यम से दी। साथ ही यह अपील भी की गई है कि कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए टीकाकरण जरूर कराएं।   दरअसल, अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर देशभर में कोरोना टीकाकरण का महाअभियान शुरू हुआ। मध्यप्रदेश में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने इस महाअभियान को गंभीरता से लिया और इस दौरान अधिक से अधिक लोगों को टीका लगाने की तैयारियां की गईं। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व में राज्य सरकार प्रदेशवासियों को टीका लगवाने के लिए प्रेरित कर रही है और इसमें विभिन्न संगठनों, जनप्रतिनिधयों के साथ गणमान्य भी अपना महत्वपूर्ण योगदान दे रहे हैं। सभी के सहयोग से टीकाकरण महाअभियान का प्रदेश में सफल क्रियान्वयन हो रहा है। इस महाअभियान के अंतर्गत मध्यप्रदेश में चार दिन में 46 लाख लोगों का टीकाकरण हो गया।   स्वास्थ्य विभाग द्वारा जानकारी दी गई है कि टीकाकरण महाअभियान में पहले दिन 21 जून को 17.42 लाख, दूसरे दिन 23 जून को 11.59 लाख और तीसरे दिन 24 जून को 7.33 लाख लोगों का वैक्सीनेशन हुआ, जबकि चौथे दिन शनिवार, 26 जून को रात नौ बजे तक वैक्सीनेशन महाअभियान के अंतर्गत 9 लाख 64 हजार 756 डोज़ेज़ नागरिकों को लगाये गए। इस प्रकार वैक्सीनेशन महाअभियान में करीब 46 लाख डोज़ लगाए जा चुके हैं। इन्हें मिलाकर मध्यप्रदेश में अब तक 1 करोड़ 98 लाख से अधिक वैक्सीन के डोज लग चुके हैं। इधर, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश में वैक्सीनेशन का अभियान निरंतर जारी रहेगा।

Dakhal News

Dakhal News 27 June 2021


bhopal,MP Corona curfew lifted, markets open , almost three months

भोपाल। मध्य प्रदेश में कोरोना संक्रमण के नए मामलों में लगातार गिरावट दर्ज की जा रही हैं और यह संख्या 50 से भी नीचे पहुंच गई है। वहीं, राज्य में सक्रिय मरीजों की संख्या भी एक हजार से कम बची है। ऐसे में राज्य सरकार ने रविवार को लगाया जाने वाला कोरोना कर्फ्यू हटा दिया गया है। शनिवार को देर शाम मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कोरोना कर्फ्यू हटाने का ऐलान किया। इसके बाद आज रविवार को करीब तीन महीने बाद बाजार खुले।   कोरोना की दूसरी लहर के दौरान अप्रैल के शुरुआत में ही प्रदेश के सभी शहरों में रविवार को कोरोना कर्फ्यू लगा दिया गया था। इसके बाद से रविवार को पूरी तरह बाजार बंद रहते थे, लेकिन सरकार द्वारा कोरोना कर्फ्यू हटाने के निर्णय के बाद रविवार को राजधानी भोपाल समेत प्रदेश के सभी शहरों में बाजार खुल गए। बाजारों में दुकानें खुली हुई हैं और लोग खरीदारी करने के लिए पहुंच रहे हैं। सभी जगह सामान्य दिनों की तरह आवागमन जारी है।   हालांकि, रात्रि कर्फ्यू अभी भी लागू रहेगा जिसके तहत रात्रि 10 बजे से सुबह 6 बजे तक बाजार बंद रहेंगे। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि हम तत्काल प्रभाव से रविवार के कोरोना कर्फ्यू को समाप्त कर रहे हैं। जिन्हें अपनी दुकानें खोलना हों, आर्थिक गतिविधियां जारी रखना हों, वे नियमानुसार कोविड 19 प्रोटोकॉल का पालन करते हुए अपनी गतिविधियां चालू रख सकते हैं। रात्रिकालीन कोरोना कर्फ्यू पूर्ववत जारी रहेगा। कोरोना अभी नियंत्रित हुआ है खत्म नहीं इसलिए प्रशासन ने कोरोना गाइडलाइन जिसमें मास्क लगाने और शारीरिक दूरी बनाये रखने के निर्देश दिये हैं।

Dakhal News

Dakhal News 27 June 2021


bhopal,MP Corona curfew lifted, markets open , almost three months

भोपाल। मध्य प्रदेश में कोरोना संक्रमण के नए मामलों में लगातार गिरावट दर्ज की जा रही हैं और यह संख्या 50 से भी नीचे पहुंच गई है। वहीं, राज्य में सक्रिय मरीजों की संख्या भी एक हजार से कम बची है। ऐसे में राज्य सरकार ने रविवार को लगाया जाने वाला कोरोना कर्फ्यू हटा दिया गया है। शनिवार को देर शाम मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कोरोना कर्फ्यू हटाने का ऐलान किया। इसके बाद आज रविवार को करीब तीन महीने बाद बाजार खुले।   कोरोना की दूसरी लहर के दौरान अप्रैल के शुरुआत में ही प्रदेश के सभी शहरों में रविवार को कोरोना कर्फ्यू लगा दिया गया था। इसके बाद से रविवार को पूरी तरह बाजार बंद रहते थे, लेकिन सरकार द्वारा कोरोना कर्फ्यू हटाने के निर्णय के बाद रविवार को राजधानी भोपाल समेत प्रदेश के सभी शहरों में बाजार खुल गए। बाजारों में दुकानें खुली हुई हैं और लोग खरीदारी करने के लिए पहुंच रहे हैं। सभी जगह सामान्य दिनों की तरह आवागमन जारी है।   हालांकि, रात्रि कर्फ्यू अभी भी लागू रहेगा जिसके तहत रात्रि 10 बजे से सुबह 6 बजे तक बाजार बंद रहेंगे। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि हम तत्काल प्रभाव से रविवार के कोरोना कर्फ्यू को समाप्त कर रहे हैं। जिन्हें अपनी दुकानें खोलना हों, आर्थिक गतिविधियां जारी रखना हों, वे नियमानुसार कोविड 19 प्रोटोकॉल का पालन करते हुए अपनी गतिविधियां चालू रख सकते हैं। रात्रिकालीन कोरोना कर्फ्यू पूर्ववत जारी रहेगा। कोरोना अभी नियंत्रित हुआ है खत्म नहीं इसलिए प्रशासन ने कोरोना गाइडलाइन जिसमें मास्क लगाने और शारीरिक दूरी बनाये रखने के निर्देश दिये हैं।

Dakhal News

Dakhal News 27 June 2021


bhopal,50 new cases , corona in MP, 22 people died

भोपाल। मध्य प्रदेश में कोरोना के नये मामलों में निरंतर कमी आ रही है और अब यह संख्या 100 से नीचे पहुंच गई है। यहां बीते 24 घंटों में कोरोना के 50 नये मामले सामने आए हैं, जबकि 22 लोगों की मौत हुई है। इसके बाद राज्य में संक्रमितों की कुल संख्या 07 लाख, 89 हजार, 611 और मृतकों की संख्या 8,871 हो गई है। यह जानकारी स्वास्थ्य विभाग द्वारा शुक्रवार देर शाम जारी कोरोना से संबंधित हेल्थ बुलेटिन में दी गई।    नये मामलों में भोपाल-11 के अलावा अन्य जिलों में 10 से कम नये मरीज मिले हैं, जबकि राज्य के 30 जिले ऐसे भी हैं, जहां आज नये प्रकरण शून्य रहे। राज्य के चार जिले- देवास, मंडला, खंडवा और बुरहानपुर कोरोना संक्रमण से पूरी तरह मुक्त हो चुके हैं। इन जिलों में अब कोरोना के एक भी सक्रिय प्रकरण नहीं हैं।   बुलेटिन के अनुसार, आज प्रदेशभर में 68,948 सेम्पलों की जांच रिपोर्ट प्राप्त हुई। इनमें 50 पॉजिटिव और 68,898 रिपोर्ट निगेटिव आईं, जबकि 171 सेम्पल रिजेक्ट हुए। पाजिटिव प्रकरणों का प्रतिशत 0.07 रहा। इसके बाद राज्य में संक्रमित मरीजों की कुल संख्या 7,89,561 से बढ़कर 7,89,611 हो गई है। इनमें सबसे अधिक इंदौर में 1,52,805, भोपाल-1,23,084, ग्वालियर-53,059, जबलपुर-50,555, उज्जैन-18,892, रतलाम-17,823, सागर-16,546, रीवा-16,426, खरगौन-13,953, बैतूल-12,857, धार-12,518, शिवपुरी-12,386, सतना-11,961, विदिशा-11,907, नरसिंहपुर-11,196, होशंगाबाद-10,669, सीहोर-10,129, शहडोल-10,079, कटनी-9362, अनूपपुर-9229, रायसेन-9223, सीधी-9219, बालाघाट-9080, सिंगरौली-8786, राजगढ़-8658, मंदसौर-8636, बड़वानी-8350, मुरैना-8230, दमोह-8091, नीमच-7912, देवास-7723, झाबुआ-7683, छतरपुर-7597, पन्ना-7313, दतिया-6951, टीकमगढ़-6855, सिवनी-6767, छिंदवाड़ा-6730, शाजापुर-6348, उमरिया-6287, मंडला-5184, गुना-5129, हरदा-5048, डिंडौरी-4618, खंडवा-4040, श्योपुर-3998, निवाड़ी-3701, अशोकनगर-3655, अलीराजपुर-3500, आगरमालवा-3303, भिण्ड-2992 और बुरहानपुर-2568 मरीज शामिल हैं।   राज्य में आज कोरोना से 22 मरीजों की मौत की पुष्टि हुई है। मृतकों में इंदौर के छह, रतलाम के चार, सागर, बैतूल, सीहोर के दो-दो तथा जबलपुर, विदिशा, राजगढ़, पन्ना, मंडला और अशोकनगर के एक-एक मरीज शामिल हैं। इसके बाद राज्य में मृतकों की संख्या 8849 से बढ़कर 8871 हो गई है। मृतकों में सबसे अधिक इंदौर के 1385, भोपाल 972, ग्वालियर-633, जबलपुर-661, उज्जैन-172, रतलाम-368, खरगौन-239, सागर-374, रीवा-155, बैतूल-247, धार-130, होशंगाबाद-99, शिवपुरी-125, विदिशा-226, नरसिंहपुर-81, सतना-133, सीहोर-68, शहडोल-118, कटनी-118, सीधी-87, अनूपपुर-89, रायसेन-193, बालाघाट-64, सिंगरौली-82, मंदसौर-84, राजगढ़-162, बड़वानी-90, मुरैना-92, दमोह-177, नीमच-84, देवास-51, झाबुआ-63, छतरपुर-91, पन्ना-63, दतिया-78, टीकमगढ़-110, सिवनी-28, छिंदवाड़ा-120, शाजापुर-65, उमरिया-63, मंडला-25, गुना-44, हरदा-95, डिंडौरी-29, खंडवा-94, श्योपुर-78, निवाड़ी-48, अशोकनगर-39, अलीराजपुर-47, आगरमालवा-61, भिण्ड-32 और बुरहानपुर-39 व्यक्ति शामिल है।   बुलेटिन के अनुसार, राज्य में अब तक 7,79,630 मरीज कोरोना को मात देकर अपने घर पहुंच चुके हैं। इनमें 198 मरीज शुक्रवार को स्वस्थ हुए। अब यहां कोरोना के सक्रिय प्रकरण 1,110 हैं।

Dakhal News

Dakhal News 25 June 2021


bhopal,50 new cases , corona in MP, 22 people died

भोपाल। मध्य प्रदेश में कोरोना के नये मामलों में निरंतर कमी आ रही है और अब यह संख्या 100 से नीचे पहुंच गई है। यहां बीते 24 घंटों में कोरोना के 50 नये मामले सामने आए हैं, जबकि 22 लोगों की मौत हुई है। इसके बाद राज्य में संक्रमितों की कुल संख्या 07 लाख, 89 हजार, 611 और मृतकों की संख्या 8,871 हो गई है। यह जानकारी स्वास्थ्य विभाग द्वारा शुक्रवार देर शाम जारी कोरोना से संबंधित हेल्थ बुलेटिन में दी गई।    नये मामलों में भोपाल-11 के अलावा अन्य जिलों में 10 से कम नये मरीज मिले हैं, जबकि राज्य के 30 जिले ऐसे भी हैं, जहां आज नये प्रकरण शून्य रहे। राज्य के चार जिले- देवास, मंडला, खंडवा और बुरहानपुर कोरोना संक्रमण से पूरी तरह मुक्त हो चुके हैं। इन जिलों में अब कोरोना के एक भी सक्रिय प्रकरण नहीं हैं।   बुलेटिन के अनुसार, आज प्रदेशभर में 68,948 सेम्पलों की जांच रिपोर्ट प्राप्त हुई। इनमें 50 पॉजिटिव और 68,898 रिपोर्ट निगेटिव आईं, जबकि 171 सेम्पल रिजेक्ट हुए। पाजिटिव प्रकरणों का प्रतिशत 0.07 रहा। इसके बाद राज्य में संक्रमित मरीजों की कुल संख्या 7,89,561 से बढ़कर 7,89,611 हो गई है। इनमें सबसे अधिक इंदौर में 1,52,805, भोपाल-1,23,084, ग्वालियर-53,059, जबलपुर-50,555, उज्जैन-18,892, रतलाम-17,823, सागर-16,546, रीवा-16,426, खरगौन-13,953, बैतूल-12,857, धार-12,518, शिवपुरी-12,386, सतना-11,961, विदिशा-11,907, नरसिंहपुर-11,196, होशंगाबाद-10,669, सीहोर-10,129, शहडोल-10,079, कटनी-9362, अनूपपुर-9229, रायसेन-9223, सीधी-9219, बालाघाट-9080, सिंगरौली-8786, राजगढ़-8658, मंदसौर-8636, बड़वानी-8350, मुरैना-8230, दमोह-8091, नीमच-7912, देवास-7723, झाबुआ-7683, छतरपुर-7597, पन्ना-7313, दतिया-6951, टीकमगढ़-6855, सिवनी-6767, छिंदवाड़ा-6730, शाजापुर-6348, उमरिया-6287, मंडला-5184, गुना-5129, हरदा-5048, डिंडौरी-4618, खंडवा-4040, श्योपुर-3998, निवाड़ी-3701, अशोकनगर-3655, अलीराजपुर-3500, आगरमालवा-3303, भिण्ड-2992 और बुरहानपुर-2568 मरीज शामिल हैं।   राज्य में आज कोरोना से 22 मरीजों की मौत की पुष्टि हुई है। मृतकों में इंदौर के छह, रतलाम के चार, सागर, बैतूल, सीहोर के दो-दो तथा जबलपुर, विदिशा, राजगढ़, पन्ना, मंडला और अशोकनगर के एक-एक मरीज शामिल हैं। इसके बाद राज्य में मृतकों की संख्या 8849 से बढ़कर 8871 हो गई है। मृतकों में सबसे अधिक इंदौर के 1385, भोपाल 972, ग्वालियर-633, जबलपुर-661, उज्जैन-172, रतलाम-368, खरगौन-239, सागर-374, रीवा-155, बैतूल-247, धार-130, होशंगाबाद-99, शिवपुरी-125, विदिशा-226, नरसिंहपुर-81, सतना-133, सीहोर-68, शहडोल-118, कटनी-118, सीधी-87, अनूपपुर-89, रायसेन-193, बालाघाट-64, सिंगरौली-82, मंदसौर-84, राजगढ़-162, बड़वानी-90, मुरैना-92, दमोह-177, नीमच-84, देवास-51, झाबुआ-63, छतरपुर-91, पन्ना-63, दतिया-78, टीकमगढ़-110, सिवनी-28, छिंदवाड़ा-120, शाजापुर-65, उमरिया-63, मंडला-25, गुना-44, हरदा-95, डिंडौरी-29, खंडवा-94, श्योपुर-78, निवाड़ी-48, अशोकनगर-39, अलीराजपुर-47, आगरमालवा-61, भिण्ड-32 और बुरहानपुर-39 व्यक्ति शामिल है।   बुलेटिन के अनुसार, राज्य में अब तक 7,79,630 मरीज कोरोना को मात देकर अपने घर पहुंच चुके हैं। इनमें 198 मरीज शुक्रवार को स्वस्थ हुए। अब यहां कोरोना के सक्रिय प्रकरण 1,110 हैं।

Dakhal News

Dakhal News 25 June 2021


bhopal,50 new cases , corona in MP, 22 people died

भोपाल। मध्य प्रदेश में कोरोना के नये मामलों में निरंतर कमी आ रही है और अब यह संख्या 100 से नीचे पहुंच गई है। यहां बीते 24 घंटों में कोरोना के 50 नये मामले सामने आए हैं, जबकि 22 लोगों की मौत हुई है। इसके बाद राज्य में संक्रमितों की कुल संख्या 07 लाख, 89 हजार, 611 और मृतकों की संख्या 8,871 हो गई है। यह जानकारी स्वास्थ्य विभाग द्वारा शुक्रवार देर शाम जारी कोरोना से संबंधित हेल्थ बुलेटिन में दी गई।    नये मामलों में भोपाल-11 के अलावा अन्य जिलों में 10 से कम नये मरीज मिले हैं, जबकि राज्य के 30 जिले ऐसे भी हैं, जहां आज नये प्रकरण शून्य रहे। राज्य के चार जिले- देवास, मंडला, खंडवा और बुरहानपुर कोरोना संक्रमण से पूरी तरह मुक्त हो चुके हैं। इन जिलों में अब कोरोना के एक भी सक्रिय प्रकरण नहीं हैं।   बुलेटिन के अनुसार, आज प्रदेशभर में 68,948 सेम्पलों की जांच रिपोर्ट प्राप्त हुई। इनमें 50 पॉजिटिव और 68,898 रिपोर्ट निगेटिव आईं, जबकि 171 सेम्पल रिजेक्ट हुए। पाजिटिव प्रकरणों का प्रतिशत 0.07 रहा। इसके बाद राज्य में संक्रमित मरीजों की कुल संख्या 7,89,561 से बढ़कर 7,89,611 हो गई है। इनमें सबसे अधिक इंदौर में 1,52,805, भोपाल-1,23,084, ग्वालियर-53,059, जबलपुर-50,555, उज्जैन-18,892, रतलाम-17,823, सागर-16,546, रीवा-16,426, खरगौन-13,953, बैतूल-12,857, धार-12,518, शिवपुरी-12,386, सतना-11,961, विदिशा-11,907, नरसिंहपुर-11,196, होशंगाबाद-10,669, सीहोर-10,129, शहडोल-10,079, कटनी-9362, अनूपपुर-9229, रायसेन-9223, सीधी-9219, बालाघाट-9080, सिंगरौली-8786, राजगढ़-8658, मंदसौर-8636, बड़वानी-8350, मुरैना-8230, दमोह-8091, नीमच-7912, देवास-7723, झाबुआ-7683, छतरपुर-7597, पन्ना-7313, दतिया-6951, टीकमगढ़-6855, सिवनी-6767, छिंदवाड़ा-6730, शाजापुर-6348, उमरिया-6287, मंडला-5184, गुना-5129, हरदा-5048, डिंडौरी-4618, खंडवा-4040, श्योपुर-3998, निवाड़ी-3701, अशोकनगर-3655, अलीराजपुर-3500, आगरमालवा-3303, भिण्ड-2992 और बुरहानपुर-2568 मरीज शामिल हैं।   राज्य में आज कोरोना से 22 मरीजों की मौत की पुष्टि हुई है। मृतकों में इंदौर के छह, रतलाम के चार, सागर, बैतूल, सीहोर के दो-दो तथा जबलपुर, विदिशा, राजगढ़, पन्ना, मंडला और अशोकनगर के एक-एक मरीज शामिल हैं। इसके बाद राज्य में मृतकों की संख्या 8849 से बढ़कर 8871 हो गई है। मृतकों में सबसे अधिक इंदौर के 1385, भोपाल 972, ग्वालियर-633, जबलपुर-661, उज्जैन-172, रतलाम-368, खरगौन-239, सागर-374, रीवा-155, बैतूल-247, धार-130, होशंगाबाद-99, शिवपुरी-125, विदिशा-226, नरसिंहपुर-81, सतना-133, सीहोर-68, शहडोल-118, कटनी-118, सीधी-87, अनूपपुर-89, रायसेन-193, बालाघाट-64, सिंगरौली-82, मंदसौर-84, राजगढ़-162, बड़वानी-90, मुरैना-92, दमोह-177, नीमच-84, देवास-51, झाबुआ-63, छतरपुर-91, पन्ना-63, दतिया-78, टीकमगढ़-110, सिवनी-28, छिंदवाड़ा-120, शाजापुर-65, उमरिया-63, मंडला-25, गुना-44, हरदा-95, डिंडौरी-29, खंडवा-94, श्योपुर-78, निवाड़ी-48, अशोकनगर-39, अलीराजपुर-47, आगरमालवा-61, भिण्ड-32 और बुरहानपुर-39 व्यक्ति शामिल है।   बुलेटिन के अनुसार, राज्य में अब तक 7,79,630 मरीज कोरोना को मात देकर अपने घर पहुंच चुके हैं। इनमें 198 मरीज शुक्रवार को स्वस्थ हुए। अब यहां कोरोना के सक्रिय प्रकरण 1,110 हैं।

Dakhal News

Dakhal News 25 June 2021


bhopal,50 new cases , corona in MP, 22 people died

भोपाल। मध्य प्रदेश में कोरोना के नये मामलों में निरंतर कमी आ रही है और अब यह संख्या 100 से नीचे पहुंच गई है। यहां बीते 24 घंटों में कोरोना के 50 नये मामले सामने आए हैं, जबकि 22 लोगों की मौत हुई है। इसके बाद राज्य में संक्रमितों की कुल संख्या 07 लाख, 89 हजार, 611 और मृतकों की संख्या 8,871 हो गई है। यह जानकारी स्वास्थ्य विभाग द्वारा शुक्रवार देर शाम जारी कोरोना से संबंधित हेल्थ बुलेटिन में दी गई।    नये मामलों में भोपाल-11 के अलावा अन्य जिलों में 10 से कम नये मरीज मिले हैं, जबकि राज्य के 30 जिले ऐसे भी हैं, जहां आज नये प्रकरण शून्य रहे। राज्य के चार जिले- देवास, मंडला, खंडवा और बुरहानपुर कोरोना संक्रमण से पूरी तरह मुक्त हो चुके हैं। इन जिलों में अब कोरोना के एक भी सक्रिय प्रकरण नहीं हैं।   बुलेटिन के अनुसार, आज प्रदेशभर में 68,948 सेम्पलों की जांच रिपोर्ट प्राप्त हुई। इनमें 50 पॉजिटिव और 68,898 रिपोर्ट निगेटिव आईं, जबकि 171 सेम्पल रिजेक्ट हुए। पाजिटिव प्रकरणों का प्रतिशत 0.07 रहा। इसके बाद राज्य में संक्रमित मरीजों की कुल संख्या 7,89,561 से बढ़कर 7,89,611 हो गई है। इनमें सबसे अधिक इंदौर में 1,52,805, भोपाल-1,23,084, ग्वालियर-53,059, जबलपुर-50,555, उज्जैन-18,892, रतलाम-17,823, सागर-16,546, रीवा-16,426, खरगौन-13,953, बैतूल-12,857, धार-12,518, शिवपुरी-12,386, सतना-11,961, विदिशा-11,907, नरसिंहपुर-11,196, होशंगाबाद-10,669, सीहोर-10,129, शहडोल-10,079, कटनी-9362, अनूपपुर-9229, रायसेन-9223, सीधी-9219, बालाघाट-9080, सिंगरौली-8786, राजगढ़-8658, मंदसौर-8636, बड़वानी-8350, मुरैना-8230, दमोह-8091, नीमच-7912, देवास-7723, झाबुआ-7683, छतरपुर-7597, पन्ना-7313, दतिया-6951, टीकमगढ़-6855, सिवनी-6767, छिंदवाड़ा-6730, शाजापुर-6348, उमरिया-6287, मंडला-5184, गुना-5129, हरदा-5048, डिंडौरी-4618, खंडवा-4040, श्योपुर-3998, निवाड़ी-3701, अशोकनगर-3655, अलीराजपुर-3500, आगरमालवा-3303, भिण्ड-2992 और बुरहानपुर-2568 मरीज शामिल हैं।   राज्य में आज कोरोना से 22 मरीजों की मौत की पुष्टि हुई है। मृतकों में इंदौर के छह, रतलाम के चार, सागर, बैतूल, सीहोर के दो-दो तथा जबलपुर, विदिशा, राजगढ़, पन्ना, मंडला और अशोकनगर के एक-एक मरीज शामिल हैं। इसके बाद राज्य में मृतकों की संख्या 8849 से बढ़कर 8871 हो गई है। मृतकों में सबसे अधिक इंदौर के 1385, भोपाल 972, ग्वालियर-633, जबलपुर-661, उज्जैन-172, रतलाम-368, खरगौन-239, सागर-374, रीवा-155, बैतूल-247, धार-130, होशंगाबाद-99, शिवपुरी-125, विदिशा-226, नरसिंहपुर-81, सतना-133, सीहोर-68, शहडोल-118, कटनी-118, सीधी-87, अनूपपुर-89, रायसेन-193, बालाघाट-64, सिंगरौली-82, मंदसौर-84, राजगढ़-162, बड़वानी-90, मुरैना-92, दमोह-177, नीमच-84, देवास-51, झाबुआ-63, छतरपुर-91, पन्ना-63, दतिया-78, टीकमगढ़-110, सिवनी-28, छिंदवाड़ा-120, शाजापुर-65, उमरिया-63, मंडला-25, गुना-44, हरदा-95, डिंडौरी-29, खंडवा-94, श्योपुर-78, निवाड़ी-48, अशोकनगर-39, अलीराजपुर-47, आगरमालवा-61, भिण्ड-32 और बुरहानपुर-39 व्यक्ति शामिल है।   बुलेटिन के अनुसार, राज्य में अब तक 7,79,630 मरीज कोरोना को मात देकर अपने घर पहुंच चुके हैं। इनमें 198 मरीज शुक्रवार को स्वस्थ हुए। अब यहां कोरोना के सक्रिय प्रकरण 1,110 हैं।

Dakhal News

Dakhal News 25 June 2021


bhopal, 1 crore 86 lakh people, vaccinated in MP

भोपाल। मध्यप्रदेश में कोरोना के टीके को लेकर लोगों में भारी उत्साह देखने को मिल रहा है और वे टीकाकरण केन्द्रों पर पहुंचकर कोरोना से बचाव के लिए वैक्सीन लगवा रहे हैं। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व में राज्य सरकार प्रदेशवासियों को टीका लगवाने के लिए प्रेरित कर रही है और इसमें विभिन्न संगठनों, जनप्रतिनिधयों के साथ गणमान्य भी अपना महत्वपूर्ण योगदान दे रहे हैं। मध्यप्रदेश में अब तक 1 करोड़ 86 लाख से अधिक लोगों का वैक्सीनेशन हो चुका है।    स्वास्थ्य विभाग द्वारा शुक्रवार को ट्वीट के माध्यम से जानकारी दी गई है कि मध्यप्रदेश में अब तक 1 करोड़ 86 लाख 86 हजार से अधिक वैक्सीन के डोज लग चुके हैं। इनमें 36.34 लाख डोज़ कोरोना टीकाकरण महाअभियान के तहत गत तीन दिनों में लगाए गए।     बता दें कि अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर देशभर में कोरोना टीकाकरण का महाअभियान शुरू हुआ था। मध्यप्रदेश में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने इस महाअभियान को गंभीरता से लिया और इस दौरान अधिक से अधिक लोगों को टीका लगाने की तैयारियां की गईं। सभी के सहयोग से टीकाकरण महाअभियान का प्रदेश में सफल क्रियान्वयन हुआ और शुरुआती तीन दिन में ही 36 लाख से अधिक लोगों का टीकाकरण हो गया।   स्वास्थ्य विभाग द्वारा जानकारी दी गई है कि टीकाकरण महाअभियान में अभूतपूर्व सफलता अर्जित करते हुए पहले दिन 21 जून को 17.42 लाख लोगों को कोरोना के टीके लगाए गए, जबकि दूसरे दिन 23 जून को 11.59 लाख और तीसरे दिन 24 जून को 7.33 लाख डोज़ वैक्सीनेशन हुआ। इस प्रकार वैक्सीनेशन महाअभियान में 36.34 लाख डोज़ लगाए गए।   वहीं, स्वास्थ्य विभाग द्वारा पुनः नागरिकों से अपील करते हुए कहा है कि - स्वयं और परिवार की सुरक्षा के लिए टीकाकरण जरूरी है। अगर आप पात्र हैं तो टीकाकरण जरूर कराएं। साथ ही यह भी अपील की गई है कि मास्क झंझट नहीं, बल्कि आपकी सुरक्षा ढाल है। कोरोना संक्रमण से बचाव हेतु घर से बाहर निकलते समय मास्क जरूर पहनें।

Dakhal News

Dakhal News 25 June 2021


anuppur,Husband and wife ,arrested in laborer

अनूपपुर। नगरपालिका बिजुरी के धोड़हा मोहल्ला में 17-18 जून की रात दो मजदूरों के बीच किसी बात को लेकर हुए विवाद में 29 वर्षीय मजदूर ट्रैक्टर चालक बलराम सिंह गोंड पुत्र इतवारी सिंह निवासी ग्राम परसवार गाड़ासरई जिला डिंडौरी हाल निवास बिजुरी की मौत हो गई थी। मुखबिर की सूचना पर लल्लू उर्फ सुमेश सिंह गोंड एवं उसकी पत्नी ओमवती सिंह परस्ते को ग्राम पाटन गाड़ासरई जिला डिंडौरी से गिरफ्तार कर गुरुवार को न्यायालय में प्रस्तुत किया गया, जहां से दोनों को जेल भेज दिया गया।   बिजुरी थाना प्रभारी सुमित कौशिक ने गुरुवार को बताया कि 18 जून को राम सिंह पुत्र सुखसेन सिंह मार्को ने बिजुरी थाने में सूचना दी कि 17 जून की रात रूपेश अग्रवाल के बाड़ा में मृतक बलराम सिंह धुर्वे पुत्र इतवारी सिंह से सुमेर सिंह गोड़ एवं उसकी पत्नी ओमवती सिंह परस्ते द्वारा मारपीट कर हत्या कर दी गई। मौके पर पहुंची पुलिस ने दोनों आरोपितों के खिलाफ मामला पंजीबद्ध किया और उनकी पतासाजी में जुट गई। मुखबिर की सूचना पर ग्राम पाटन गाडासरई जिला डिंडौरी से दोनों आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया गया है। 

Dakhal News

Dakhal News 24 June 2021


anuppur,Husband and wife ,arrested in laborer

अनूपपुर। नगरपालिका बिजुरी के धोड़हा मोहल्ला में 17-18 जून की रात दो मजदूरों के बीच किसी बात को लेकर हुए विवाद में 29 वर्षीय मजदूर ट्रैक्टर चालक बलराम सिंह गोंड पुत्र इतवारी सिंह निवासी ग्राम परसवार गाड़ासरई जिला डिंडौरी हाल निवास बिजुरी की मौत हो गई थी। मुखबिर की सूचना पर लल्लू उर्फ सुमेश सिंह गोंड एवं उसकी पत्नी ओमवती सिंह परस्ते को ग्राम पाटन गाड़ासरई जिला डिंडौरी से गिरफ्तार कर गुरुवार को न्यायालय में प्रस्तुत किया गया, जहां से दोनों को जेल भेज दिया गया।   बिजुरी थाना प्रभारी सुमित कौशिक ने गुरुवार को बताया कि 18 जून को राम सिंह पुत्र सुखसेन सिंह मार्को ने बिजुरी थाने में सूचना दी कि 17 जून की रात रूपेश अग्रवाल के बाड़ा में मृतक बलराम सिंह धुर्वे पुत्र इतवारी सिंह से सुमेर सिंह गोड़ एवं उसकी पत्नी ओमवती सिंह परस्ते द्वारा मारपीट कर हत्या कर दी गई। मौके पर पहुंची पुलिस ने दोनों आरोपितों के खिलाफ मामला पंजीबद्ध किया और उनकी पतासाजी में जुट गई। मुखबिर की सूचना पर ग्राम पाटन गाडासरई जिला डिंडौरी से दोनों आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया गया है। 

Dakhal News

Dakhal News 24 June 2021


anuppur,Husband and wife ,arrested in laborer

अनूपपुर। नगरपालिका बिजुरी के धोड़हा मोहल्ला में 17-18 जून की रात दो मजदूरों के बीच किसी बात को लेकर हुए विवाद में 29 वर्षीय मजदूर ट्रैक्टर चालक बलराम सिंह गोंड पुत्र इतवारी सिंह निवासी ग्राम परसवार गाड़ासरई जिला डिंडौरी हाल निवास बिजुरी की मौत हो गई थी। मुखबिर की सूचना पर लल्लू उर्फ सुमेश सिंह गोंड एवं उसकी पत्नी ओमवती सिंह परस्ते को ग्राम पाटन गाड़ासरई जिला डिंडौरी से गिरफ्तार कर गुरुवार को न्यायालय में प्रस्तुत किया गया, जहां से दोनों को जेल भेज दिया गया।   बिजुरी थाना प्रभारी सुमित कौशिक ने गुरुवार को बताया कि 18 जून को राम सिंह पुत्र सुखसेन सिंह मार्को ने बिजुरी थाने में सूचना दी कि 17 जून की रात रूपेश अग्रवाल के बाड़ा में मृतक बलराम सिंह धुर्वे पुत्र इतवारी सिंह से सुमेर सिंह गोड़ एवं उसकी पत्नी ओमवती सिंह परस्ते द्वारा मारपीट कर हत्या कर दी गई। मौके पर पहुंची पुलिस ने दोनों आरोपितों के खिलाफ मामला पंजीबद्ध किया और उनकी पतासाजी में जुट गई। मुखबिर की सूचना पर ग्राम पाटन गाडासरई जिला डिंडौरी से दोनों आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया गया है। 

Dakhal News

Dakhal News 24 June 2021


bhopal,Morena will become, furniture hub ,Madhya Pradesh

भोपाल। कभी जिस मुरैना ने भारत के संसद भवन को आकार दिया और अपने आप में एक विलक्षण सौंदर्य बोध से दुनिया को परिचित कराया था, स्‍वाद में गजक के लिए जिसकी पहचान पूरी दुनिया में है, वही मुरैना अब नए रूप में फर्नीचर के नए आयामों को गढ़ने के लिए तैयार हो रहा है। इस शहर में हजारों लोगों के लिए रोजगार के अवसर के साथ लकड़ी पर कलाकारी का एक नया भविष्‍य योजनाबद्ध तरीके से शुरू होगा।    सिर्फ डाकुओं के लिए ही नहीं,  भवन निर्माण के लिए भी याद किया जाता है मुरैना  दरअसल, मुरैना का नाम लेते ही जहन में सबसे पहले जो छवि उभरती है, वह चंबल के बीहड़ क्षेत्र और डाकुओं की है, लेकिन यह तो उसका एक छोटा सा भाग है। इतिहास के झरोखे में देखें तो यही वह स्‍थान है, जिसने भारत के संसद भवन को आकार देने के लिए एक आधार प्रदान किया था। कहने को भले ही 144 मजबूत स्तंभों पर टिका वर्तमान संसद भवन 93 साल पहले अंग्रेजों ने बनवाया था, लेकिन अंग्रेजों को भी संसद भवन कैसा होना चाहिए, यह सोच डिजाइन के स्‍तर पर मुरैना से ही मिली थी। यहां के गांव में बने मितावली-पड़ावली का चौसठ योगिनी मंदिर ही वह आधार है, जिसकी कॉपी बनाने का निर्णय इस संसद भवन को निर्मित करनेवाले ब्रिटिश वास्तुविद एडविन के लुटियन और सर हर्बर्ट बेकर  ने लिया था।    चौसठ योगिनी मंदिर की प्रतिमूर्ति है भारत का संसद भवन  संसद भवन का शिलान्यास 12 फरवरी 1921 को ड्यूक आफ कनाट ने किया और छह वर्षों के बाद उद्घाटन तत्कालीन वायसराय लार्ड इरविन ने 18 जनवरी 1927 को किया था। इसके एतिहासिक संदर्भ को देखें तो मुरैना में बने चौसठ योगिनी मंदिर और संसद भवन में पूर्ण समानताएं हैं। हालांकि यब बात अलग है कि तत्‍कालीन समय में अंग्रेजों को यह कहने में संकोच हो रहा था कि हमने इस भवन का डिजाइन एक हिन्‍दू मंदिर से लिया है। अंग्रेजों के द्वारा स्‍थापित किया गया कि भारत का संसद भवन पुर्तगाली स्थापत्य कला का अद्भुत नमूना है। आज यह बात दुनिया को पता चल चुकी है कि भारतीय संसद भवन मुरैना में बने एक हिन्‍दू मंदिर की ही प्रतिमूर्ति है।  अब मुरैना आधुनिक भारत में अपने नए विकास के मॉडल पर चलने को तैयार हो उठा है। यहां शीघ्र ही लकड़ी के कार्य के लिए विश्‍वस्‍तरीय सुविधाएं एवं कार्य योजना मूर्त रूप लेती हुई दिखाई देगी। अपने संसदीय क्षेत्र होने के परिणामस्‍वरूप केंद्रीय कृषि मंत्री नरेन्‍द्र सिंह तोमर इस क्षेत्र के विकास के लिए जिस तरह से रुचि ले रहे हैं, उसे देखकर लग रहा है कि आनेवाले दिनों में यह पूरा क्षेत्र देश में अपनी एक अलग पहचान बनाने के लिए जुट गया है।    होगा विश्‍व स्‍तरीय फर्नीचर उद्योग विकसित  केंद्रीय मंत्री तोमर ने इसी तारतम्य में अधिकारियों से चर्चा कर प्रस्ताव दिया है कि मुरैना में फर्नीचर उद्योग विकसित करने की संभावनाएँ तलाशी जाएं। तोमर की पहल पर मुरैना के जिलाधिकारी तथा राज्य सरकार के सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम विभाग के अधिकारियों ने एक प्रजेन्टेशन दिया है ।  प्रजेन्टेशन के दौरान फर्नीचर उद्योग से जुड़े निवेशकों ने संतोष जताया और वे यहां पर बड़ी संख्‍या में निवेश के लिए उत्साहित दिख रहे हैं ।    हजारों लोगों को मिलेगा रोजगार  केंद्रीय मंत्री नरेन्‍द्र सिंह तोमर कहते हैं ''मुरैना की लकड़ियों से जिले में ही फर्नीचर बनाया जाएगा तो यहां उद्योग विकसित होने के साथ बड़ी संख्या में स्थानीय लोगों को रोजगार मिलेगा, साथ ही जिले की अर्थव्यवस्था भी बेहतर हो सकेगी। मुरैना में फर्नीचर बनने से मध्यप्रदेश सहित आसपास के जिलों में इसका विक्रय हो सकेगा, जिससे सभी स्थानों के लोगों को काफी सहूलियत व फायदा होगा।''    इसलिए चुना गया मुरैना को फर्नीचर उद्योग के लिए  तोमर इस क्षेत्र को फर्नीचर उद्योग के लिए सबसे मुफीद इसलिए भी मानते हैं क्‍योंकि मुरैना जिले में आरक्षित वन क्षेत्र 50 हजार,669 हेक्टेयर तथा संरक्षित वन 26 हजार,847 हेक्टेयर हैं, जो ज्यादातर सबलगढ़ एवं जौरा ब्लाक में हैं। जिले में मुख्यतः सागौन, शीशम, नीम, पीपल, बांस, साल, बबूल, हर्रा, पलाश, तेंदू के वृक्ष के वन हैं। इनमें से मुख्यतः शीशम, सागौन, साल की लकड़ियां फर्नीचर में उपयोग होती हैं, वहीं फर्नीचर में इस्तेमाल होने वाली लकड़ियों में देवदार व कठल भी हैं, जो मध्यप्रदेश में बहुतायत में पाई जाती हैं। ये लकड़िया भी फर्नीचर उद्योग के विकास में बहुत उपयोगी हैं। वर्तमान में मुरैना जिले में उत्पादित लकड़ियों का अधिकांश हिस्सा उत्तर प्रदेश व राजस्थान के फर्नीचर निर्माताओं द्वारा उपयोग में लाया जाता है। यहां की लकड़ी और बने हुए फर्नीचर की मांग मध्‍य प्रदेश की सीमा से लगे राज्‍यों के अलावा भी देश के अन्‍य राज्‍यों में बनी रहती है। वैसे ध्‍यान में आया है कि फर्नीचर  बनाने वाले उद्योग व कारीगरों की बहुत कमी है। तोमर इसलिए मुरैना को एक फर्नीचर निर्माण के रूप में विकसित कर इस कमी को दूर करने के साथ हजारों युवाओं को रोजगार मुहैया कराना चाहते हैं।    केंद्र के साथ राज्‍य शासन करेगी मदद  इस नवाचार को लेकर प्रदेश के सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम मंत्री ओमप्रकाश सखलेचा  का कहना है कि राज्य शासन की ओर से इस पहल पर पूरा सहयोग किया जाएगा। हमारा प्रयास रहेगा कि मुरैना जिले में फर्नीचर निर्माण को बहुत ही योजनाबद्ध तरह से विकसित किया जाए। इसके लिए शासन स्‍तर पर जो भी आवश्‍यकता होगी, उसकी पूर्ति की जाएगी। बता दें कि  मध्यप्रदेश शासन के सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम विभाग ने इसी महीने के प्रारंभ में नए नियम जारी किए हैं, जिनके अंतर्गत क्लस्टर्स के लिए राज्य शासन द्वारा रियायती दर पर जमीन आवंटित की जाएगी।   निवेशकों में दिखा भारी उत्‍साह  फर्नीचर उद्योग से जुड़े निवेशकों ने भी उत्साह दिखाते हुए कहा है कि कोरोना महामारी के बावजूद केंद्रीय मंत्री तोमर ने तत्परतापूर्वक इस दिशा में पहल की है। राज्य सरकार की नीतियाँ भी निवेश को प्रोत्साहित करने वाली हैं। ऐसे में निवेशकों द्वारा इस संबंध में शीघ्र ही मुरैना का दौरा कर आगे की रूपरेखा तय की जाएगी। निवेशकों ने इस अभिनव पहल के लिए केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर के साथ ही प्रदेश में मंत्री ओमप्रकाश सखलेचा का आभार माना है।    उल्‍लेखनीय है कि केन्‍द्रीय कृषि एवं किसान कल्याण, ग्रामीण विकास, पंचायती राज तथा खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्री और मुरैना के क्षेत्रीय सांसद नरेंद्र सिंह तोमर और प्रदेश के सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम मंत्री ओमप्रकाश सखलेचा की पहल पर मुरैना में फर्नीचर क्लस्टर की स्थापना के सिलसिले में बीते दिन ही कृषि भवन, नई दिल्ली में संबंधित अधिकारियों और निवेशकों के साथ वृहद बैठक सम्‍पन्‍न हुई है। बैठक में मुरैना को शीघ्र फर्नीचर निर्माण के क्षेत्र में विश्‍वस्‍तरीय पहचान बनाने की सहमति बनी है।

Dakhal News

Dakhal News 24 June 2021


bhopal,Morena will become, furniture hub ,Madhya Pradesh

भोपाल। कभी जिस मुरैना ने भारत के संसद भवन को आकार दिया और अपने आप में एक विलक्षण सौंदर्य बोध से दुनिया को परिचित कराया था, स्‍वाद में गजक के लिए जिसकी पहचान पूरी दुनिया में है, वही मुरैना अब नए रूप में फर्नीचर के नए आयामों को गढ़ने के लिए तैयार हो रहा है। इस शहर में हजारों लोगों के लिए रोजगार के अवसर के साथ लकड़ी पर कलाकारी का एक नया भविष्‍य योजनाबद्ध तरीके से शुरू होगा।    सिर्फ डाकुओं के लिए ही नहीं,  भवन निर्माण के लिए भी याद किया जाता है मुरैना  दरअसल, मुरैना का नाम लेते ही जहन में सबसे पहले जो छवि उभरती है, वह चंबल के बीहड़ क्षेत्र और डाकुओं की है, लेकिन यह तो उसका एक छोटा सा भाग है। इतिहास के झरोखे में देखें तो यही वह स्‍थान है, जिसने भारत के संसद भवन को आकार देने के लिए एक आधार प्रदान किया था। कहने को भले ही 144 मजबूत स्तंभों पर टिका वर्तमान संसद भवन 93 साल पहले अंग्रेजों ने बनवाया था, लेकिन अंग्रेजों को भी संसद भवन कैसा होना चाहिए, यह सोच डिजाइन के स्‍तर पर मुरैना से ही मिली थी। यहां के गांव में बने मितावली-पड़ावली का चौसठ योगिनी मंदिर ही वह आधार है, जिसकी कॉपी बनाने का निर्णय इस संसद भवन को निर्मित करनेवाले ब्रिटिश वास्तुविद एडविन के लुटियन और सर हर्बर्ट बेकर  ने लिया था।    चौसठ योगिनी मंदिर की प्रतिमूर्ति है भारत का संसद भवन  संसद भवन का शिलान्यास 12 फरवरी 1921 को ड्यूक आफ कनाट ने किया और छह वर्षों के बाद उद्घाटन तत्कालीन वायसराय लार्ड इरविन ने 18 जनवरी 1927 को किया था। इसके एतिहासिक संदर्भ को देखें तो मुरैना में बने चौसठ योगिनी मंदिर और संसद भवन में पूर्ण समानताएं हैं। हालांकि यब बात अलग है कि तत्‍कालीन समय में अंग्रेजों को यह कहने में संकोच हो रहा था कि हमने इस भवन का डिजाइन एक हिन्‍दू मंदिर से लिया है। अंग्रेजों के द्वारा स्‍थापित किया गया कि भारत का संसद भवन पुर्तगाली स्थापत्य कला का अद्भुत नमूना है। आज यह बात दुनिया को पता चल चुकी है कि भारतीय संसद भवन मुरैना में बने एक हिन्‍दू मंदिर की ही प्रतिमूर्ति है।  अब मुरैना आधुनिक भारत में अपने नए विकास के मॉडल पर चलने को तैयार हो उठा है। यहां शीघ्र ही लकड़ी के कार्य के लिए विश्‍वस्‍तरीय सुविधाएं एवं कार्य योजना मूर्त रूप लेती हुई दिखाई देगी। अपने संसदीय क्षेत्र होने के परिणामस्‍वरूप केंद्रीय कृषि मंत्री नरेन्‍द्र सिंह तोमर इस क्षेत्र के विकास के लिए जिस तरह से रुचि ले रहे हैं, उसे देखकर लग रहा है कि आनेवाले दिनों में यह पूरा क्षेत्र देश में अपनी एक अलग पहचान बनाने के लिए जुट गया है।    होगा विश्‍व स्‍तरीय फर्नीचर उद्योग विकसित  केंद्रीय मंत्री तोमर ने इसी तारतम्य में अधिकारियों से चर्चा कर प्रस्ताव दिया है कि मुरैना में फर्नीचर उद्योग विकसित करने की संभावनाएँ तलाशी जाएं। तोमर की पहल पर मुरैना के जिलाधिकारी तथा राज्य सरकार के सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम विभाग के अधिकारियों ने एक प्रजेन्टेशन दिया है ।  प्रजेन्टेशन के दौरान फर्नीचर उद्योग से जुड़े निवेशकों ने संतोष जताया और वे यहां पर बड़ी संख्‍या में निवेश के लिए उत्साहित दिख रहे हैं ।    हजारों लोगों को मिलेगा रोजगार  केंद्रीय मंत्री नरेन्‍द्र सिंह तोमर कहते हैं ''मुरैना की लकड़ियों से जिले में ही फर्नीचर बनाया जाएगा तो यहां उद्योग विकसित होने के साथ बड़ी संख्या में स्थानीय लोगों को रोजगार मिलेगा, साथ ही जिले की अर्थव्यवस्था भी बेहतर हो सकेगी। मुरैना में फर्नीचर बनने से मध्यप्रदेश सहित आसपास के जिलों में इसका विक्रय हो सकेगा, जिससे सभी स्थानों के लोगों को काफी सहूलियत व फायदा होगा।''    इसलिए चुना गया मुरैना को फर्नीचर उद्योग के लिए  तोमर इस क्षेत्र को फर्नीचर उद्योग के लिए सबसे मुफीद इसलिए भी मानते हैं क्‍योंकि मुरैना जिले में आरक्षित वन क्षेत्र 50 हजार,669 हेक्टेयर तथा संरक्षित वन 26 हजार,847 हेक्टेयर हैं, जो ज्यादातर सबलगढ़ एवं जौरा ब्लाक में हैं। जिले में मुख्यतः सागौन, शीशम, नीम, पीपल, बांस, साल, बबूल, हर्रा, पलाश, तेंदू के वृक्ष के वन हैं। इनमें से मुख्यतः शीशम, सागौन, साल की लकड़ियां फर्नीचर में उपयोग होती हैं, वहीं फर्नीचर में इस्तेमाल होने वाली लकड़ियों में देवदार व कठल भी हैं, जो मध्यप्रदेश में बहुतायत में पाई जाती हैं। ये लकड़िया भी फर्नीचर उद्योग के विकास में बहुत उपयोगी हैं। वर्तमान में मुरैना जिले में उत्पादित लकड़ियों का अधिकांश हिस्सा उत्तर प्रदेश व राजस्थान के फर्नीचर निर्माताओं द्वारा उपयोग में लाया जाता है। यहां की लकड़ी और बने हुए फर्नीचर की मांग मध्‍य प्रदेश की सीमा से लगे राज्‍यों के अलावा भी देश के अन्‍य राज्‍यों में बनी रहती है। वैसे ध्‍यान में आया है कि फर्नीचर  बनाने वाले उद्योग व कारीगरों की बहुत कमी है। तोमर इसलिए मुरैना को एक फर्नीचर निर्माण के रूप में विकसित कर इस कमी को दूर करने के साथ हजारों युवाओं को रोजगार मुहैया कराना चाहते हैं।    केंद्र के साथ राज्‍य शासन करेगी मदद  इस नवाचार को लेकर प्रदेश के सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम मंत्री ओमप्रकाश सखलेचा  का कहना है कि राज्य शासन की ओर से इस पहल पर पूरा सहयोग किया जाएगा। हमारा प्रयास रहेगा कि मुरैना जिले में फर्नीचर निर्माण को बहुत ही योजनाबद्ध तरह से विकसित किया जाए। इसके लिए शासन स्‍तर पर जो भी आवश्‍यकता होगी, उसकी पूर्ति की जाएगी। बता दें कि  मध्यप्रदेश शासन के सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम विभाग ने इसी महीने के प्रारंभ में नए नियम जारी किए हैं, जिनके अंतर्गत क्लस्टर्स के लिए राज्य शासन द्वारा रियायती दर पर जमीन आवंटित की जाएगी।   निवेशकों में दिखा भारी उत्‍साह  फर्नीचर उद्योग से जुड़े निवेशकों ने भी उत्साह दिखाते हुए कहा है कि कोरोना महामारी के बावजूद केंद्रीय मंत्री तोमर ने तत्परतापूर्वक इस दिशा में पहल की है। राज्य सरकार की नीतियाँ भी निवेश को प्रोत्साहित करने वाली हैं। ऐसे में निवेशकों द्वारा इस संबंध में शीघ्र ही मुरैना का दौरा कर आगे की रूपरेखा तय की जाएगी। निवेशकों ने इस अभिनव पहल के लिए केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर के साथ ही प्रदेश में मंत्री ओमप्रकाश सखलेचा का आभार माना है।    उल्‍लेखनीय है कि केन्‍द्रीय कृषि एवं किसान कल्याण, ग्रामीण विकास, पंचायती राज तथा खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्री और मुरैना के क्षेत्रीय सांसद नरेंद्र सिंह तोमर और प्रदेश के सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम मंत्री ओमप्रकाश सखलेचा की पहल पर मुरैना में फर्नीचर क्लस्टर की स्थापना के सिलसिले में बीते दिन ही कृषि भवन, नई दिल्ली में संबंधित अधिकारियों और निवेशकों के साथ वृहद बैठक सम्‍पन्‍न हुई है। बैठक में मुरैना को शीघ्र फर्नीचर निर्माण के क्षेत्र में विश्‍वस्‍तरीय पहचान बनाने की सहमति बनी है।

Dakhal News

Dakhal News 24 June 2021


bhopal,Innovations started,self-reliance,women in Madhya Pradesh

भोपाल। देश का दिल मध्‍य प्रदेश से धड़कता है। यहां की आधी आबादी अपने विकास में पीछे रहे यह सही नहीं होगा, इसलिए राज्‍य सरकार एक के बाद एक नवाचारों को सतत कर रही है। जिसमें कि महिलाएं बढ़ चढ़कर आगे भी आ रही हैं। सरकार ने अब तय किया है कि वह महिला सशक्तिकरण को बढ़ावा देने और महिलाओं के लिए रोजगार अवसर को  आसान बनाने के उद्देश्य लोक निर्माण विभाग द्वारा पहली बार ठेकेदारी के लिए पंजीकृत होने वाली मध्यप्रदेश की मूल निवासी महिला ठेकेदारों को पंजीयन शुल्क की छूट प्रदान करेगी।    सिविल इंजीनियरिंग में डिग्री और डिप्लोमा करने वाली युवा महिलाओं को मिलेगा नया अवसर  लोक निर्माण मंत्री गोपाल भार्गव ने कहा कि राज्य शासन के इस निर्णय से सिविल इंजीनियरिंग में डिग्री और डिप्लोमा करने वाली युवा महिलाओं तथा अन्य महिलाओं  को शासकीय कांट्रेक्टर के रूप में कार्य करने में आसानी होगी। राज्य सरकार द्वारा आत्म-निर्भर मध्य प्रदेश के क्रम में रोजगार संसाधनों के सृजन  का जो लक्ष्य  रखा गया है  उसी कड़ी में एक कदम है।    25 हजार रुपए की रजिस्‍ट्रेशन फीस में दी गई है छूट  इसी के साथ प्रमुख सचिव लोक निर्माण नीरज मंडलोई ने बताते हैं कि राज्य सरकार द्वारा लोक निर्माण विभाग ठेकेदारों के पंजीयन की वर्तमान प्रचलित केंद्रीकृत व्यवस्था 2016 में संशोधन कर,  सोल-प्रोपराइटर  महिला ठेकेदारों को पंजीयन शुल्क से मुक्त किया गया है। लेकिन सोल - प्रोपराइटर  महिला ठेकेदार फर्म को अन्य व्यक्तियों को सम्मिलित करते हुए,  पार्टनरशिप फर्म अथवा कंपनी के रूप में पंजीकृत होने पर पूर्व के अनुसार पंजीयन शुल्क  देना होगा। बतादें कि 25 हजार रजिस्ट्रेशन फीस लोक निर्माण विभाग के ठेके लेने के लिए जमा करने पड़ते हैं, अब नए नियमानुसार यह फीस महिलाओं से नहीं ली जाएगी।    आत्म-निर्भर मध्यप्रदेश की नारी शक्‍ति को लेकर हुई अंतर्विभागीय मंत्री-समूह की बैठक दूसरी ओर आत्म-निर्भर मध्यप्रदेश के रोडमेप के तहत महिला सशक्तिकरण एवं बाल कल्याण से संबंधित लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिये अंतर्विभागीय मंत्री-समूह की बैठक की गई है। बैठक में राज्य में महिला नीति, महिला उद्यमों को विशेष प्रोत्साहन देने, प्रत्येक जिले में वर्किंग वुमेन हॉस्टल खोले जाने के साथ ही अन्य कई मुद्दों पर प्रस्तुत किये गये पावर प्वाइंट प्रजेंटेशन पर चर्चा हुई है । बैठक में खेल एवं युवा कल्याण, तकनीकी शिक्षा एवं कौशल विकास मंत्री यशोधरा राजे सिंधिया, लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी और पर्यटन एवं संस्कृति मंत्री उषा ठाकुर सहित महिला-बाल विकास विभाग एवं अन्य विभागों के वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी ने अध्यक्षता कर रहे गृह मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा के सामने 'प्रदेश में सशक्‍त बने महिलाएं' इस पर गंभीर विचार-विमर्श एवं वर्ष भर के लिए आवश्‍यक निर्णय लिए गए हैं।    पूरा हो रहा प्रधानमंत्री मोदी का सशक्‍त मातृशक्‍ति का सपना  इन नवाचारों को लेकर पर्यटन एवं संस्कृति मंत्री उषा ठाकुर का कहना है कि माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी का जो सशक्‍त मातृशक्‍ति का सपना है, वह आज पूरा हो रहा है । जननायक भाई शिवराज सिंह चौहान बेटियों की उन्‍नति के लिए जितने प्रतिबद्ध हैं और बेटियों की सुरक्षा, उनके सम्‍मान एवं उनकी उन्‍नति, प्रगति, अवसर के लिए जितने नए आयाम आज मध्‍य प्रदेश में वे स्‍थापित कर रहे हैं, शायद ही दूसरे प्रदेश या दुनिया में कहीं देखने को मिलेंगे। मैं कहूं इतना तो कोई विचार ही नहीं कर पाता।   कोविड-19 की समस्‍याओं को भी नवाचार कर रहे दूर  उषा ठाकुर कहती हैं कि मातृ शक्‍ति राष्‍ट्र की आधार शक्‍ति है। वो विश्‍व की निर्मातृ शक्‍ति है, जब वह कोई प्रतिज्ञा बद्ध होकर निकलती है तो वह सारी चुनौतियों को अवसर में बदलती है।  कोविड-19 ने जो समस्‍या हमारे सामने खड़ी कर दी थी उसे हम ऐसे नवाचारों के माध्‍यम से सफलता के चरमोत्‍कर्ष पर ले जाना चाहते हैं । आप सभी का सहयोग इन नवाचारों में मिले यही हमारी अपेक्षा है। वे कहती हैं कि बेटी बेटी राष्‍ट्र का गौरव है, बेटी बचाओ, बेटी बढ़ाओं । संस्‍कारित बेटी और सशक्‍त बेटी ही राष्‍ट्र की मजबूत नींव निर्माण कर सकती है। 21 वीं शताब्‍दी का जगतगुरू भारत यदि हम बनाना चाहता हैं तो हमारी मातृ शक्‍ति आपनी संपूर्ण योग्‍यताओं का समपर्ण देश के निर्माण में करें, यह अपेक्षा पूरा समाज भारत की मातृशक्‍ति से रखता है और मध्‍य प्रदेश की सरकार इसी दिशा में अपने नवाचार कर रही है।    महिलाओं को मिल रहे रोजगार के अधिकतम अवसर  खेल एवं युवा कल्याण, तकनीकी शिक्षा एवं कौशल विकास मंत्री यशोधरा राजे सिंधिया कहती हैं कि रोजगार के अधिकतम अवसर दिलाने के लिए मध्यप्रदेश सरकार संकल्पित है। कौशल विकास कार्यक्रम संचालित कर युवाओं विशेषकर महिलाओं को सतत रोजगार उपलब्ध कराया जा रहा है। अभी हाल ही में रोजगारोन्मुखी कार्यक्रम के अंतर्गत नौ हजार 721 युवाओं को रोजगार के अवसर उपलब्ध कराए गए हैं और उन्हें आत्मनिर्भर बनाया गया है। वे कहती हैं कि  कोविड संक्रमण के समय भी अनेकों युवाओं को प्रशिक्षण देकर उन्हें रोजगार उपलब्ध कराया जा रहा है, यह भी एक उपलब्धि है।  खेल मंत्री यशोधरा राजे साथ में यह भी जोड़ती हैं कि प्रदेश में कौशल उन्नयन कार्यक्रम को और आगे बढ़ाने को लेकर जिस तरह से मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान के 'आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश' की संकल्पना में अपना पूर्ण योगदान करने के लिए इन दिनों जो कार्य हो रहा है, वह अपने आप में एक मिसाल है।    प्रदेश में महिला उद्यमियों के लिए विशेष क्‍लस्टर हो रहा तैयार  बतादें कि मध्य प्रदेश के चार बड़े शहर भोपाल, इंदौर, जबलपुर व ग्वालियर में महिला उद्यमियों के लिए विशेष क्‍लस्टर बनने की दिशा में भी इन दिनों तेजी के साथ काम किया जा रहा है। यहां महिलाएं खिलौने और रेडिमेड कपड़े बना पाएंगी। क्‍लस्टर में महिलाओं को फ्री में जमीन और बिजली भी रियायती दर पर दी जाएगी। साथ ही ब्याज कम दर पर कर्ज उपलब्ध करवाया जाएगा ताकि महिलाएं अपना उद्यम शुरू करते हुए आत्मनिर्भर बन सकें। इसके लिए प्रदेशस्तरीय महिला उद्यमी राज्य स्तरीय सम्मेलन भी आयोजित हो चुका है । जिसमें महिला उद्यमियों से जुड़े विषयों पर चर्चा की गई थी । अब सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम तथा विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्री ओमप्रकाश सखलेचा इसे लेकर आगे की रणनीति बना रहे हैं।

Dakhal News

Dakhal News 23 June 2021


chindwara, Sudden flood,Ghoghra water fall, rescued two families

छिंदवाड़ा। महाराष्ट्र के नागपुर से पिकनिक मनाने के लिए छिंदवाड़ा जिले के सौसर में पिपलानारायणवार स्थित घोघरा वाटर फॉल आए 2 परिवार बीती रात बाढ़ में घिर गए। फॉल में अचानक पानी आ गया और दोनों परिवार टापू पर ही फंस गये। करीब 3 घंटे चले रेस्क्यू के बाद देर रात 11 बजे सभी को सुरक्षित बाहर निकाल लिया गया। परिवार के सभी सदस्यों का स्वास्थ्य परीक्षण कराया गया।   जानकारी के अनुसार महाराष्ट्र के नागपुर से दो परिवार मंगलवार को पिकनिक मनाने के लिए पिपलानारायणवार से लगे घोघरा वाटर फाल आये थे। इस दौरान शाम के समय अचानक वाटर फाल में पानी आ गया और दोनों परिवार के करीब 12 सदस्य टापू पर ही फंस गये। इसके बाद चीख पुकार मच गई। परिवार जान बचाने के लिए टापू पर चढ़ गए। आसपास के लोगों ने पुलिस को सूचना दी। सूचना मिलते ही प्रशासनिक टीम ने मौके पर पहुंचकर पीपला और मोहगांव के तैराक बुलवाए। फंसे लोगों को रस्सी के सहारे निकालने का प्रयास किया गया, लेकिन पानी का तेज बहाव और अंधेरे की वजह से रेस्क्यू में थोड़ी मुश्किल हुई।    रात तकरीबन 10 बजे 4 लोगों को सुरक्षित बाहर निकाल लिया गया। रात 11 बजे तक सभी को सुरक्षित निकाल लिया गया। रेस्क्यू कर विधाबाई पत्नी राजू गुर्जर, बादल पुत्र राजू गुर्जर, प्रिया पुत्री बादल गुर्जर, बारिभ पुत्र राजू गुर्जर, निकिता पत्नी बारिभ गुर्जर, चन्द्रजीत पुत्र किशोर तिरपुड़े, कोमल पत्नी चन्द्रजीत तिरपुड़े, आयांश पुत्र चन्द्रजीत तिरपुड़े, शिवानी पुत्री कैलाश पराने, यश पुत्र कैलाश पराने, ग्लेही पुत्री कैलाश पराने और कोकिला पत्नी संतोष दाऊषकर को बचाया गया। प्राथमिक स्वास्थ्य की जांच सौंसर अस्पताल में कराया गया।

Dakhal News

Dakhal News 23 June 2021


bhopal,89 new cases , corona in MP, 19 people died

भोपाल। मध्यप्रदेश में कोरोना के नये मामलों में निरंतर कमी आ रही है और अब यह संख्या 100 से नीचे पहुंच गई है। यहां बीते 24 घंटों में कोरोना के 89 नये मामले सामने आए हैं, जबकि 19 लोगों की मौत हुई है। इसके बाद राज्य में संक्रमितों की कुल संख्या 07 लाख, 89 हजार, 350 और मृतकों की संख्या 8,786 हो गई है। यह जानकारी स्वास्थ्य विभाग द्वारा सोमवार देर शाम जारी कोरोना से संबंधित हेल्थ बुलेटिन में दी गई। नये मामलों में भोपाल-19, इंदौर-17 के अलावा अन्य जिलों में 10 से कम नये मरीज मिले हैं, जबकि राज्य के 29 जिले ऐसे भी हैं, जहां आज नये प्रकरण शून्य रहे।बुलेटिन के अनुसार, आज प्रदेशभर में 64,926 सेम्पलों की जांच रिपोर्ट प्राप्त हुई। इनमें 89 पॉजिटिव और 64,837 रिपोर्ट निगेटिव आईं, जबकि 143 सेम्पल रिजेक्ट हुए। पाजिटिव प्रकरणों का प्रतिशत 0.1 रहा। इसके बाद राज्य में संक्रमित मरीजों की कुल संख्या 7,89,261 से बढ़कर 7,89,350 हो गई है। इनमें सबसे अधिक इंदौर में 1,52,761, भोपाल-1,23,032, ग्वालियर-53,052, जबलपुर-50,540, उज्जैन-18,881, रतलाम+17,818, सागर-16,537, रीवा-16,425, खरगौन-13,946, बैतूल-12,848, धार-12,515, शिवपुरी-12,384, सतना-11,960, विदिशा-11,907, नरसिंहपुर-11,190, होशंगाबाद-10,662, सीहोर-10,128, शहडोल-10,079, कटनी-9362, सीधी-9219, अनूपपुर-9228, रायसेन-9213, बालाघाट-9077, सिंगरौली-8786, मंदसौर-8632, राजगढ़-8645, बड़वानी-8345, मुरैना-8229, दमोह-8086, नीमच-7911, देवास-7723, झाबुआ-7683, छतरपुर-7596, पन्ना-7308, दतिया-6950, टीकमगढ़-6855, सिवनी-6761, छिंदवाड़ा-6727, शाजापुर-6340, उमरिया-6287, मंडला-5184, गुना-5128, हरदा-5044, डिंडौरी-4616, खंडवा-4040, श्योपुर-3998, निवाड़ी-3700, अशोकनगर-3655, अलीराजपुर-3499, आगरमालवा-3298, भिण्ड-2992 और बुरहानपुर-2568 मरीज शामिल हैं।राज्य में आज कोरोना से 19 मरीजों की मौत की पुष्टि हुई है। मृतकों में रतलाम के चार, सागर के तीन, जबलपुर, बैतूल, सीहोर के दो-दो तथा ग्वालियर, उज्जैन, सतना, विदिशा, शाजापुर और श्योपुर के एक-एक मरीज शामिल हैं। इसके बाद राज्य में मृतकों की संख्या 8767 से बढ़कर 8786 हो गई है। मृतकों में सबसे अधिक इंदौर के 1376, भोपाल 972, ग्वालियर-628, जबलपुर-657, उज्जैन-172, रतलाम-352, खरगौन-238, सागर-364, रीवा-155, बैतूल-240, धार-130, होशंगाबाद-99, शिवपुरी-125, विदिशा-222, नरसिंहपुर-81, सतना-133, सीहोर-60, शहडोल-118, कटनी-117, सीधी-87, अनूपपुर-89, रायसेन-193, बालाघाट-64, सिंगरौली-81, मंदसौर-84, राजगढ़-154, बड़वानी-89, मुरैना-92, दमोह-175, नीमच-84, देवास-51, झाबुआ-62, छतरपुर-91, पन्ना-62, दतिया-78, टीकमगढ़-110, सिवनी-28, छिंदवाड़ा-120, शाजापुर-64, उमरिया-63, मंडला-23, गुना-44, हरदा-95, डिंडौरी-29, खंडवा-94, श्योपुर-76, निवाड़ी-48, अशोकनगर-38, अलीराजपुर-47, आगरमालवा-61, भिण्ड-32 और बुरहानपुर-39 व्यक्ति शामिल है।बुलेटिन के अनुसार, राज्य में अब तक 7,78,584 मरीज कोरोना को मात देकर अपने घर पहुंच चुके हैं। इनमें 304 मरीज सोमवार को स्वस्थ हुए। अब यहां कोरोना के सक्रिय प्रकरण 1,980 हैं।

Dakhal News

Dakhal News 21 June 2021


bhopal,89 new cases , corona in MP, 19 people died

भोपाल। मध्यप्रदेश में कोरोना के नये मामलों में निरंतर कमी आ रही है और अब यह संख्या 100 से नीचे पहुंच गई है। यहां बीते 24 घंटों में कोरोना के 89 नये मामले सामने आए हैं, जबकि 19 लोगों की मौत हुई है। इसके बाद राज्य में संक्रमितों की कुल संख्या 07 लाख, 89 हजार, 350 और मृतकों की संख्या 8,786 हो गई है। यह जानकारी स्वास्थ्य विभाग द्वारा सोमवार देर शाम जारी कोरोना से संबंधित हेल्थ बुलेटिन में दी गई। नये मामलों में भोपाल-19, इंदौर-17 के अलावा अन्य जिलों में 10 से कम नये मरीज मिले हैं, जबकि राज्य के 29 जिले ऐसे भी हैं, जहां आज नये प्रकरण शून्य रहे।बुलेटिन के अनुसार, आज प्रदेशभर में 64,926 सेम्पलों की जांच रिपोर्ट प्राप्त हुई। इनमें 89 पॉजिटिव और 64,837 रिपोर्ट निगेटिव आईं, जबकि 143 सेम्पल रिजेक्ट हुए। पाजिटिव प्रकरणों का प्रतिशत 0.1 रहा। इसके बाद राज्य में संक्रमित मरीजों की कुल संख्या 7,89,261 से बढ़कर 7,89,350 हो गई है। इनमें सबसे अधिक इंदौर में 1,52,761, भोपाल-1,23,032, ग्वालियर-53,052, जबलपुर-50,540, उज्जैन-18,881, रतलाम+17,818, सागर-16,537, रीवा-16,425, खरगौन-13,946, बैतूल-12,848, धार-12,515, शिवपुरी-12,384, सतना-11,960, विदिशा-11,907, नरसिंहपुर-11,190, होशंगाबाद-10,662, सीहोर-10,128, शहडोल-10,079, कटनी-9362, सीधी-9219, अनूपपुर-9228, रायसेन-9213, बालाघाट-9077, सिंगरौली-8786, मंदसौर-8632, राजगढ़-8645, बड़वानी-8345, मुरैना-8229, दमोह-8086, नीमच-7911, देवास-7723, झाबुआ-7683, छतरपुर-7596, पन्ना-7308, दतिया-6950, टीकमगढ़-6855, सिवनी-6761, छिंदवाड़ा-6727, शाजापुर-6340, उमरिया-6287, मंडला-5184, गुना-5128, हरदा-5044, डिंडौरी-4616, खंडवा-4040, श्योपुर-3998, निवाड़ी-3700, अशोकनगर-3655, अलीराजपुर-3499, आगरमालवा-3298, भिण्ड-2992 और बुरहानपुर-2568 मरीज शामिल हैं।राज्य में आज कोरोना से 19 मरीजों की मौत की पुष्टि हुई है। मृतकों में रतलाम के चार, सागर के तीन, जबलपुर, बैतूल, सीहोर के दो-दो तथा ग्वालियर, उज्जैन, सतना, विदिशा, शाजापुर और श्योपुर के एक-एक मरीज शामिल हैं। इसके बाद राज्य में मृतकों की संख्या 8767 से बढ़कर 8786 हो गई है। मृतकों में सबसे अधिक इंदौर के 1376, भोपाल 972, ग्वालियर-628, जबलपुर-657, उज्जैन-172, रतलाम-352, खरगौन-238, सागर-364, रीवा-155, बैतूल-240, धार-130, होशंगाबाद-99, शिवपुरी-125, विदिशा-222, नरसिंहपुर-81, सतना-133, सीहोर-60, शहडोल-118, कटनी-117, सीधी-87, अनूपपुर-89, रायसेन-193, बालाघाट-64, सिंगरौली-81, मंदसौर-84, राजगढ़-154, बड़वानी-89, मुरैना-92, दमोह-175, नीमच-84, देवास-51, झाबुआ-62, छतरपुर-91, पन्ना-62, दतिया-78, टीकमगढ़-110, सिवनी-28, छिंदवाड़ा-120, शाजापुर-64, उमरिया-63, मंडला-23, गुना-44, हरदा-95, डिंडौरी-29, खंडवा-94, श्योपुर-76, निवाड़ी-48, अशोकनगर-38, अलीराजपुर-47, आगरमालवा-61, भिण्ड-32 और बुरहानपुर-39 व्यक्ति शामिल है।बुलेटिन के अनुसार, राज्य में अब तक 7,78,584 मरीज कोरोना को मात देकर अपने घर पहुंच चुके हैं। इनमें 304 मरीज सोमवार को स्वस्थ हुए। अब यहां कोरोना के सक्रिय प्रकरण 1,980 हैं।

Dakhal News

Dakhal News 21 June 2021


Bhopal,More than four thousand tourists, reached Van Vihar ,two days

भोपाल। राजधानी भोपाल स्थित राष्ट्रीय उद्यान वन विहार-जू गत गुरुवार को पर्यटकों के खोल दिया गया था। वन विहार के खुलते ही बड़ी संख्या में पर्यटकों के आने का तांता लगा हुआ है। यहां गुरुवार और शनिवार को दो दिन में 4 हजार 98 पर्यटकों ने प्रकृति और वन्य प्राणी को देखने का आनंद लिया। इससे वन विहार प्रबंधन को एक लाख 81 हजार 670 रुपये की आमदनी हुई है।जनसम्पर्क अधिकारी ऋषभ जैन ने शनिवार शाम को बताया कि वन विहार प्रबंधन के अनुसार, केवल शनिवार के दिन सुबह 6 से रात्रि 7 बजे की अवधि में 3 हजार से ज्यादा पर्यटकों ने अपनी उपस्थिति दर्ज कराई है। वन विहार में आने वाले पर्यटकों से कोरोना गाइड लाइन का पालन कराए जाने के साथ ही बिना मास्क के किसी भी पर्यटक को अंदर प्रवेश नहीं दिया जा रहा है। वन विहार सप्ताह में पाँच दिन ही खुल रहा है।

Dakhal News

Dakhal News 19 June 2021


Bhopal,More than four thousand tourists, reached Van Vihar ,two days

भोपाल। राजधानी भोपाल स्थित राष्ट्रीय उद्यान वन विहार-जू गत गुरुवार को पर्यटकों के खोल दिया गया था। वन विहार के खुलते ही बड़ी संख्या में पर्यटकों के आने का तांता लगा हुआ है। यहां गुरुवार और शनिवार को दो दिन में 4 हजार 98 पर्यटकों ने प्रकृति और वन्य प्राणी को देखने का आनंद लिया। इससे वन विहार प्रबंधन को एक लाख 81 हजार 670 रुपये की आमदनी हुई है।जनसम्पर्क अधिकारी ऋषभ जैन ने शनिवार शाम को बताया कि वन विहार प्रबंधन के अनुसार, केवल शनिवार के दिन सुबह 6 से रात्रि 7 बजे की अवधि में 3 हजार से ज्यादा पर्यटकों ने अपनी उपस्थिति दर्ज कराई है। वन विहार में आने वाले पर्यटकों से कोरोना गाइड लाइन का पालन कराए जाने के साथ ही बिना मास्क के किसी भी पर्यटक को अंदर प्रवेश नहीं दिया जा रहा है। वन विहार सप्ताह में पाँच दिन ही खुल रहा है।

Dakhal News

Dakhal News 19 June 2021


bhopal,Monsoon became active,entire Madhya Pradesh, rain expected

भोपाल। पाकिस्तान पर बने सिस्टम से पांच दिन से ठिठककर खड़े मानसून को कुछ ऊर्जा मिलना शुरू हो गई है। मौसम विज्ञानियों के मुताबिक मौजूदा स्थिति को देखते हुए शनिवार को मानसून पूरे मध्यप्रदेश में छा सकता है। वर्तमान में प्रदेश के 90 फीसद क्षेत्र में मानसून आ चुका है। रविवार तक पूरे प्रदेश में मानसून छा जाएगा। इसके साथ ही बारिश की गतिविधियों में भी कुछ बढ़ोतरी होने लगी है।   वरिष्ठ मौसम वैज्ञानिक पीके साहा ने जानकारी देते हुए बताया कि दक्षिण पश्चिम मानसून ने इस बार अपनी निर्धारित तारीख 16 जून से छह दिन पहले 10 जून को ही मप्र में दस्तक दे दी थी। ताबड़तोड़ ढंग से आगे बढ़ते हुए मानसून तीन दिन में राजधानी सहित प्रदेश के आधे हिस्से में छा गया था, लेकिन इसके बाद नमी नहीं मिलने के कारण मानसून शिथिल पड़ गया था, हालांकि इस दौरान बंगाल की खाड़ी से नमी मिलते रहने के कारण पूर्वी मप्र में बारिश का सिलसिला जारी रहा, पश्चिमी मप्र के कुछ जिलों में भी रूक-रूक कर बौछारें पड़ती रहीं। वर्तमान में दक्षिणी पाकिस्तान पर 5.8 किलोमीटर पर एक ऊपरी हवा का चक्रवात बना हुआ है। इस सिस्टम के असर से गुजरात और उससे लगे मालवा के क्षेत्र को अरब सागर से अच्छी नमी मिलना शुरू हो गई है। इससे मानसून को भी आगे बढऩे में ऊर्जा मिली है।  हरियाणा पर भी एक ऊपरी हवा का चक्रवात बना हुआ है। उत्तरी राजस्थान पर भी एक चक्रवात मौजूद है। उत्तर-पश्चिम बिहार पर एक कम दबाव का क्षेत्र मौजूद है। इसके अलावा महाराष्ट्र से लेकर केरल तक एक अपतटीय द्रोणिका लाइन (ट्रफ) बनी हुई है। इन पांच वेदर सिस्टम के सक्रिय होने से प्रदेश में बरसात की गतिविधियों में तेजी आई है। शनिवार को प्रदेश के अधिकांश जिलों में गरज-चमक के साथ बौछारें पडऩे की भी संभावना है। उधर पिछले 24 घंटों के दौरान शनिवार सुबह साढ़े आठ बजे तक सीधी में 75.6, सिवनी में 68.6, रतलाम में 60, नरसिंहपुर में 32, रायसेन में 20, रीवा में 18.6, सतना में 14.2, पचमढ़ी में 7, खजुराहो में 6.4,दमोह, शाजापुर में 6, भोपाल में 4.1, गुना में 3, सागर, होशंगाबाद में 2.6, उज्जैन में 2, मलाजखंड में 1.8, इंदौर में 1.7, उमरिया में 1.6, भोपाल शहर में 0.4 मिलीमीटर बरसात हुई।   इन क्षेत्रों में बारिश के आसारमानसून के सक्रिय होने से रीवा, शहडोल, जबलपुर, सागर, होशंगाबाद, भोपाल, इंदौर, उज्जैन, ग्वालियर, चंबल संभागों के जिलों में बारिश की संभावना है। इनमें रीवा, शहडोल संभाग के जिलों में कहीं-कहीं भारी वर्षा भी हो सकती है।

Dakhal News

Dakhal News 19 June 2021


Vidisha, Car-bike collision, four people died

विदिशा। जिले के सिरोंज थाना क्षेत्र में भोपाल-विदिशा मार्ग पर ग्राम चौड़ा खेड़ी, कांकड़ खेड़ी घाटी के पास बीती देर रात एक तेज रफ्तार कार और बाइक के बीच जोरदार टक्कर हो गई। इस हादसे में चार लोगों की मौत हो गई, जिनमें एक चार साल का बच्चा भी शामिल है। सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची और मृतकों के शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेजकर मामले की जांच शुरू की। सिरोंज थाना पुलिस के अनुसार, मोटरसाइकिल पर ग्राम चितावर के एक ही परिवार को चार लोग परिवार में शादी की खरीदारी के लिए सिरोंज आए थे, गुरुवार रात को वापस अपने गांव जा रहे थे, तभी यह हादसा हो गया।सवार थे। सिंरोंज-भोपाल रोड पर कांकड़ खेड़ी घाटी पर मोटरसाइकिल ट्रक को ओवरटेक करते समय सामने से आती एक कार से टकरा गई। इस हादसे में मोटरसाइकिल पर सवार चारों लोगों की मौत हो गई। थाना प्रभारी पंकज गीते ने बताया कि पुलिस को रात करीब 11:45 बजे घटना की सूचना मिली। पुलिस ने मौके पर पहुंचकर मृतकों के शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेजा और मामले की जांच शुरू की। मृतकों की पहचान 45 वर्षीय मीना वाल्मीकि, उनके पति 50 वर्षीय गोपाल वाल्मीकि, 40 वर्षीय मदनलाल वाल्मीकि और 4 साल का बच्चा ऋषि वाल्मीकि के रूप में हुई है। शुक्रवार को पुलिस ने मृतकों का पोस्टमार्टम कराकर शव परिजनों को सौंप दिया है। घटना की जांच की जा रही है। हादसे के बाद कार चालक मौके से फरार हो गया। पुलिस उसकी तलाश में जुटी है।

Dakhal News

Dakhal News 18 June 2021


indore,21 new cases , corona found ,no death

इंदौर। मध्यप्रदेश की आर्थिक राजधानी इंदौर में कोरोना संक्रमण के मामलों में राहत मिली है। यहां कोरोना के नये मरीजों की संख्या में तेजी से कमी आ रही है। इंदौर में बीते 24 घंटों में कोरोना के 21 नये मामले सामने आए हैं। इसके बाद यहां संक्रमित मरीजों की कुल संख्या बढ़कर 1,52,713 हो गई है। वहीं, कोरोना से यहां लगातार दूसरे दिन कोई मौत नहीं हुई है। यहां दो दिन से मृतकों की संख्या स्थिर है। इंदौर के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. बी.एस सैत्या ने शुक्रवार को बताया कि एमजीएम मेडिकल कॉलेज द्वारा गुरुवार देर रात 9,275 सेम्पलों की जांच रिपोर्ट जारी की गई। इनमें 21 व्यक्ति पॉजिटिव पाए गए। इन नये मामलों के साथ जिले में अब संक्रमित मरीजों की कुल संख्या 1 लाख, 52 हजार 713 हो गई है। वहीं, इंदौर में बीते 24 घंटों में कोरोना से किसी भी मरीज की मौत नहीं हुई है। यहां मृतकों की संख्या 1374 है। हालांकि, यहां बीते 24 घंटे में 78 मरीज स्वस्थ हुए हैं। यहां अब तक 1 लाख 50 हजार 863 मरीज कोरोना को मात देकर अपने घर पहुंच गए हैं। फिलहाल इंदौर में कोरोना के सक्रिय प्रकरण 476 है, जिनका उपचार चल रहा है।

Dakhal News

Dakhal News 18 June 2021


Khargone, Illegal liquor , mahua worth , Rs 10 lakh seized

खरगौन। खरगौन जिले में कलेक्टर अनुग्रहा पी. के निर्देशों और सहायक आबकारी आयुक्त मनीष खरे के मार्गदर्शन में अवैध मदिरा के निर्माण, संग्रहण, परिवहन, विक्रय एवं चौर्यनयन के विरुद्ध अभियान चलाया जा रहा है। इस विशेष अभियान के तहत गुरुवार सुबह बड़ी कार्यवाही की गई। सहायक जिला आबकारी अधिकारी बसंत कुमार भीटे ने बताया कि जिले के कसरावद वृत के संवेदनशील ग्राम अहिल्यापुरा, बहादरपुरा, पीपली व सरवरदेवला में कार्यवाही कर बड़ी मात्रा में महूआ लहान जब्त कर विधिवत नष्ट किया गया। मप्र आबकारी अधिनियम की धारा 34 (1) क,च के तहत 07 प्रकरण दर्ज कर 03 आरोपितों को गिरफ्तार किया गया। इस दौरान 92 लीटर हाथभट्टी मदिरा जप्त की गई और लगभग 20,500 किलोग्राम महुआ लहान मौके पर विधिवत नष्ट किया गया। जब्त मदिरा एवं महुआ लहान व जब्त सामग्री का बाजार मूल्य लगभग दस लाख साठ हजार रुपये है। पूरी कार्यवाही में आबकारी उपनिरीक्षक मोहनलाल भायल, मुकेश गौर, दिनेश सिंह चौहान, ओमप्रकाश मालवीय, सचिन भास्करे एवं जिले के समस्त वृतों के आबकारी मुख्य आरक्षक, आबकारी आरक्षको का सराहनीय योगदान रहा।

Dakhal News

Dakhal News 17 June 2021


bhopal, International Yoga Day, everyone ,group yoga ,homes

भोपाल। आगामी 21 जून को 7वें अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के उपलक्ष्य में 'Be With Yoga Be at Home' थीम के साथ योगाभ्यास का आयोजन किया जाना है। वर्तमान में कोविड-19 संक्रमण के दौरान विगत वर्ष 2020 की भॉति घर पर ही रहकर विश्‍व योग दिवस मनाया जा रहा है। योग से अपनी रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिये और योग को आम जनता की दिनचर्या में शामिल करने के उद्देश्य से मोरारजी देसाई राष्ट्रीय योग संस्थान, नई दिल्ली द्वारा निर्धारित प्रोटोटाइप के अनुसार विश्व योग दिवस में अपने-अपने घरों से सामूहिक योगाभ्यास किया जायेगा।   कोविड-19 और अन्य बीमारी के संक्रमण से बचाव के लिये तथा रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में योग की विशेष भूमिका है। लॉकडाउन के चलते जब सभी लोग घरों में सीमित रह गये और शारीरिक क्रिया-कलाप कम हो गये, जिसका प्रतिकूल प्रभाव शारीरिक और मानसिक स्तर पर पड़ा। साथ ही, जो लोग संक्रमित हो गये थे, उन्हें संक्रमण से और संक्रमण के पश्चात होने वाले अन्य प्रतिकूल प्रभाव से बचाव में आयुष विभाग द्वारा योग से निरोग कार्यक्रम होम आइसोलेटेड मरीजों के लिये प्रारंभ किया, जिसके सार्थक परिणाम रहे हैं। इसी क्रम में योग से निरोग कार्यक्रम से पोस्ट कोविड और अन्य रोगियों को भी जोड़े जाने के लिये कार्यक्रम को निरंतर लागू किया जा रहा है।   विश्व योग दिवस के दिन सुबह 7 बजे से 7.45 बजे तक इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के सहयोग से उचित आसन और प्राणायाम कर विश्व योग दिवस को सफल बनाने की अपील की गयी है।   21 जून को आयुष विभाग भारत सरकार द्वारा जारी योग प्रोटोकॉल के अनुसार सभी विभाग के अधिकारी एवं कर्मचारी, इण्डियन योग एसोसिएशन, पतंजलि योगपीठ एवं आर्ट ऑफ लिविंग के सदस्य अपने घर से ही योगाभ्यास करेंगे। इसका प्रसारण वेबएक्स एप, यू-ट्यूब, ट्वीटर के माध्यम से किया जायेगा।

Dakhal News

Dakhal News 17 June 2021


ujjain,Mahakal

उज्जैन। बाबा महाकाल की हर वर्ष श्रावण-भादौ मास में सवारी निकलती है। इस वर्ष श्रावण मास 25 जुलाई से प्रारंभ हो रहा है। 26 जुलाई को सोमवार होने से श्रावण मास की पहली सवारी इस दिन निकलना है। इधर प्रशासनिक सूत्रों का दावा है कि इस दिशा में फिलहाल कोई विचार नहीं किया गया है। जुलाई माह के दूसरे सप्ताह में इस बारे में निर्णय लिया जाएगा। तब तक कोरोना संक्रमण को लेकर स्थितियां साफ हो जाएंगी।   जिला प्रशासन द्वारा महाकालेश्वर मंदिर में 28 जून से श्रद्धालुओं को दर्शन कराने हेतु रोड मेप बनाया जा रहा है। अभी यह तय नहीं है कि 25 जून के बाद प्रशासन इस रोड मेप में किस प्रकार की नीतियां तय करता है। अभी सिर्फ कयास ही लगाए जा रहे हैं। इधर जिला प्रशासन के अधिकारियों की एक बैठक में आंतरिक रूप से यह तय कर लिया गया है कि फिलहाल 15 जुलाई तक महाकाल बाबा की सवारी निकालने को लेकर कुछ भी तय नहीं किया जाएगा। तब तक कोरोना संक्रमण को लेकर स्थितियां साफ हो जाएंगी। उसके बाद ही तय होगा कि श्रावण मास में श्रद्धालुओं को दर्शन हेतु प्रवेश किस प्रकार से दिया जाए और 26 जुलाई को श्रावण मास के पहले सोमवार को निकलने वाली बाबा महाकाल की सवारी को लेकर क्या किया जाए? सूत्रों का कहना है कि भोपाल से भी निर्देश हैं कि इस मामले में कोई जल्दबाजी न की जाए। अभी निर्णय लेने और बाद में संशोधन होने पर असमंजस की स्थितियां रहेंगी। ऐसे में फिलहाल यह भविष्य के गर्भ में है कि श्रावण मास में श्रद्धालुओं की दर्शन व्यवस्था कैसी रहेगी और बाबा महाकाल की सवारी का स्वरूप क्या होगा?

Dakhal News

Dakhal News 16 June 2021


ujjain,Mahakal

उज्जैन। बाबा महाकाल की हर वर्ष श्रावण-भादौ मास में सवारी निकलती है। इस वर्ष श्रावण मास 25 जुलाई से प्रारंभ हो रहा है। 26 जुलाई को सोमवार होने से श्रावण मास की पहली सवारी इस दिन निकलना है। इधर प्रशासनिक सूत्रों का दावा है कि इस दिशा में फिलहाल कोई विचार नहीं किया गया है। जुलाई माह के दूसरे सप्ताह में इस बारे में निर्णय लिया जाएगा। तब तक कोरोना संक्रमण को लेकर स्थितियां साफ हो जाएंगी।   जिला प्रशासन द्वारा महाकालेश्वर मंदिर में 28 जून से श्रद्धालुओं को दर्शन कराने हेतु रोड मेप बनाया जा रहा है। अभी यह तय नहीं है कि 25 जून के बाद प्रशासन इस रोड मेप में किस प्रकार की नीतियां तय करता है। अभी सिर्फ कयास ही लगाए जा रहे हैं। इधर जिला प्रशासन के अधिकारियों की एक बैठक में आंतरिक रूप से यह तय कर लिया गया है कि फिलहाल 15 जुलाई तक महाकाल बाबा की सवारी निकालने को लेकर कुछ भी तय नहीं किया जाएगा। तब तक कोरोना संक्रमण को लेकर स्थितियां साफ हो जाएंगी। उसके बाद ही तय होगा कि श्रावण मास में श्रद्धालुओं को दर्शन हेतु प्रवेश किस प्रकार से दिया जाए और 26 जुलाई को श्रावण मास के पहले सोमवार को निकलने वाली बाबा महाकाल की सवारी को लेकर क्या किया जाए? सूत्रों का कहना है कि भोपाल से भी निर्देश हैं कि इस मामले में कोई जल्दबाजी न की जाए। अभी निर्णय लेने और बाद में संशोधन होने पर असमंजस की स्थितियां रहेंगी। ऐसे में फिलहाल यह भविष्य के गर्भ में है कि श्रावण मास में श्रद्धालुओं की दर्शन व्यवस्था कैसी रहेगी और बाबा महाकाल की सवारी का स्वरूप क्या होगा?

Dakhal News

Dakhal News 16 June 2021


seoni,Two kotwars , absent from, check post, suspended, notice ,2 patwaris

सिवनी। जिले के कलेक्टर डाॅ.राहुल हरिदास फांटिग द्वारा गत दिवस औचक निरीक्षण के दौरान चैकपोस्ट पर अनुपस्थित पाये गये 02 कोटवारों को निलंबित कर दिया गया है, वहीं 02 पटवारियों को कारण बताओं नोटिस सोमवार को जारी किया गया है।    दरअसल, जिले में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए जिले की सीमा में प्रवेश मार्गों में चेकपोस्ट स्थापित कर आने जाने वाले व्यक्तियों की स्क्रीनिंग एवं अन्य कार्यवाही के लिए कर्मचारियों की नियुक्ति गई है। कलेक्टर डॉ फटिंग द्वारा विगत दिवस किए गए सीलादेही चेकपोस्ट के औचक निरीक्षण में पदस्थ कोटवार ग्राम लोनिया रामगोपाल एवं ग्राम पलारी के कोटवार मनोज मेश्राम को अनुपस्थित पाए जाने पर तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया है। इसी तरह पटवारी शीतल रांहगडाले एवं श्रृद्धा उईके को कारण बताओं नोटिस जारी किया गया है। दो दिवस के भीतर जवाब प्रस्तुत करने के निर्देश दिए गए हैं। समयावधि में जवाब प्रस्तुत न करने तथा उत्तर संतोषजनक न होने पर निलंबन की कार्यवाही की जाएगी।  

Dakhal News

Dakhal News 14 June 2021


seoni,Two kotwars , absent from, check post, suspended, notice ,2 patwaris

सिवनी। जिले के कलेक्टर डाॅ.राहुल हरिदास फांटिग द्वारा गत दिवस औचक निरीक्षण के दौरान चैकपोस्ट पर अनुपस्थित पाये गये 02 कोटवारों को निलंबित कर दिया गया है, वहीं 02 पटवारियों को कारण बताओं नोटिस सोमवार को जारी किया गया है।    दरअसल, जिले में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए जिले की सीमा में प्रवेश मार्गों में चेकपोस्ट स्थापित कर आने जाने वाले व्यक्तियों की स्क्रीनिंग एवं अन्य कार्यवाही के लिए कर्मचारियों की नियुक्ति गई है। कलेक्टर डॉ फटिंग द्वारा विगत दिवस किए गए सीलादेही चेकपोस्ट के औचक निरीक्षण में पदस्थ कोटवार ग्राम लोनिया रामगोपाल एवं ग्राम पलारी के कोटवार मनोज मेश्राम को अनुपस्थित पाए जाने पर तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया है। इसी तरह पटवारी शीतल रांहगडाले एवं श्रृद्धा उईके को कारण बताओं नोटिस जारी किया गया है। दो दिवस के भीतर जवाब प्रस्तुत करने के निर्देश दिए गए हैं। समयावधि में जवाब प्रस्तुत न करने तथा उत्तर संतोषजनक न होने पर निलंबन की कार्यवाही की जाएगी।  

Dakhal News

Dakhal News 14 June 2021


seoni,Two kotwars , absent from, check post, suspended, notice ,2 patwaris

सिवनी। जिले के कलेक्टर डाॅ.राहुल हरिदास फांटिग द्वारा गत दिवस औचक निरीक्षण के दौरान चैकपोस्ट पर अनुपस्थित पाये गये 02 कोटवारों को निलंबित कर दिया गया है, वहीं 02 पटवारियों को कारण बताओं नोटिस सोमवार को जारी किया गया है।    दरअसल, जिले में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए जिले की सीमा में प्रवेश मार्गों में चेकपोस्ट स्थापित कर आने जाने वाले व्यक्तियों की स्क्रीनिंग एवं अन्य कार्यवाही के लिए कर्मचारियों की नियुक्ति गई है। कलेक्टर डॉ फटिंग द्वारा विगत दिवस किए गए सीलादेही चेकपोस्ट के औचक निरीक्षण में पदस्थ कोटवार ग्राम लोनिया रामगोपाल एवं ग्राम पलारी के कोटवार मनोज मेश्राम को अनुपस्थित पाए जाने पर तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया है। इसी तरह पटवारी शीतल रांहगडाले एवं श्रृद्धा उईके को कारण बताओं नोटिस जारी किया गया है। दो दिवस के भीतर जवाब प्रस्तुत करने के निर्देश दिए गए हैं। समयावधि में जवाब प्रस्तुत न करने तथा उत्तर संतोषजनक न होने पर निलंबन की कार्यवाही की जाएगी।  

Dakhal News

Dakhal News 14 June 2021


bhopal, Madhya Pradesh,Self-reliant state , made in oxygen production

भोपाल। कोरोना महामारी की दूसरी लहर को मध्य प्रदेश सरकार ने चुनौती के रूप में लिया है। साढ़े सात करोड़ की जनसंख्‍या वाला यह राज्‍य अपनी स्वास्थ्य सेवा को मजबूत करने के लिए तत्पर है। इस दिशा में मध्‍य प्रदेश सरकार के प्रयास दिखाई दे रहे हैं।   कोरोना काल में जिस तरह देश के कई अस्पतालों में ऑक्‍सीजन की कमी हुई और मरीजों की मृत्‍यु का कारण बनी, उससे मध्य प्रदेश की शिवराज राज्य ने सबक लिया है। इस विपरीत परस्थिति में राज्‍य ने ऑक्सीजन उत्पादन में आत्मनिर्भर बनने की ओर कदम बढ़ाने में ही अपना हित देखा और इस दिशा में तेजी के साथ अपने कार्य शुरू कर दिये हैं। अब इसके सकारात्‍मक परिणाम सामने आने लगे हैं।    ऑक्‍सीजन प्‍लांट लगाने में मिल रही केंद्र सरकार की मदद  दरअसल, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के निर्देश पर मध्य प्रदेश को ऑक्सीजन उत्पादन में आत्म-निर्भर बनाने के विशेष प्रयास किये जा रहे हैं। मप्र सरकार ने नई नीति के तहत ऑक्सीजन प्लांट लगाने पर 75 करोड़ रुपए तक की सहायता राशि देने के साथ ही सरकारी स्‍तर पर अपने अस्‍पतालों में ऑक्‍सीजन प्‍लांट लगाना शुरू किया है। जिसमें अब तक कई पीएसए ऑक्सीजन प्लांट शुरू हो चुके हैं। इसमें प्रदेश को लगातार केंद्र सरकार की मदद मिल रही है।    डीआरडीओ कर रहा है ऑनसाईट ऑक्सीजन गैस जनरेटर प्लांट विकसित  केंद्रीय पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान कहते हैं, 'ऑक्सीजन की उपलब्धता के मामले में केंद्र एवं मध्य प्रदेश शासन लगातार मिलकर कार्य कर रहे हैं। शीघ्र ही मध्य प्रदेश ऑक्सीजन के मामले में आत्म-निर्भर होगा।'    रक्षा मंत्रालय की एजेंसी डीआरडीओ द्वारा अस्पताल में ही नई डेबेल तकनीक के आधार पर चलने वाले ऑनसाईट ऑक्सीजन गैस जनरेटर प्लांट विकसित किये गए हैं। मध्य प्रदेश के आठ जिलों बालाघाट, धार, दमोह, जबलपुर, बडवानी, शहडोल, सतना और मंदसौर में पांच करोड़ 87 लाख रुपये से अधिक की लागत के इसी पर तकनीक आधारित 570 लीटर प्रति मिनट की क्षमता वाले ऑनसाईट ऑक्सीजन गैस जनरेटर प्लांट लगाने पर काम हो रहा है।   ऑक्‍सीजन में हर जिला होगा आत्‍मनिर्भर  मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का इस मामले में कहना है कि उन्होंने ऑक्सीजन के मामले में आत्मनिर्भर बनने का फैसला लिया है। इसमें केंद्र भी हमारी मदद कर रहा है। इस मदद के कारण ही हम जल्द ही ऑक्सीजन के मामले में आत्मनिर्भर बन जाएंगें। सभी जिलों को ऑक्सीजन के मामले में आत्म-निर्भर बनाने के लिए कमर कस ली है।    सहायता का विशिष्ट पैकेज है इन सभी के लिए  गृहमंत्री और राज्य सरकार के प्रवक्ता नरोत्तम मिश्रा बताते हैं कि 75 करोड़ रुपए तक की सहायता का विशिष्ट पैकेज प्रदान करने वाली इस योजना का लाभ नई यूनिट्स, वर्तमान में चल थी यूनिट्स, मेडिकल कॉलेजों, अस्पतालों और नर्सिंग होम भी उठा सकेंगे। इसमें न्यूनतम 10 क्यूबिक मीटर प्रति घंटा ऑक्सीजन उत्पादन करने वाली इकाइयों को 50 फीसदी की दर और अधिकतम 75 करोड़ रुपए की सहायता प्रदान की जाएगी। इकाइयों को फिलहाल जो इलेक्ट्रिसिटी टैरिफ चल रहा है, उसपर भी एक रुपए प्रति यूनिट की छूट दी जाएगी।    तीन चरणों में हो जाएगा पूरा कार्य  प्रदेश के 13 जिलों में मेडिकल कॉलेज होने से वहां पूर्व से ही ऑक्सीजन की बल्क स्टोरेज यूनिट्स उपलब्ध हैं। प्रदेश के शेष 37 जिलों के लिए राज्य सरकार द्वारा स्वयं के बजट से जिला अस्पतालों में पीएसए तकनीक से तैयार होने वाले नए ऑक्सीजन प्लांट्स लगाए जा रहे हैं।    इनमें से प्रथम चरण में 13 जिलों में, द्वितीय चरण में नौ जिलों में और तृतीय चरण में शेष 15 जिलों में ऑक्सीजन प्लांट्स लग रहे हैं। इससे प्रदेश में ऑक्सीजन के लिए बाहरी स्त्रोतों पर निर्भरता लगभग न के बराबर हो जायेगी।   नवीनतम तकनीक से ऑक्सीजन प्लांट्स लगाने वाला मध्य प्रदेश देश का पहला राज्य  कौंसिल ऑफ़ साइंटिफिक एंड इंडस्ट्रियल रिसर्च, भारत सरकार द्वारा अधिकृत संस्था के माध्यम से प्रदेश के पांच जिला चिकित्सालयों भोपाल, रीवा, इंदौर, ग्वालियर और शहडोल में नवीनतम वीपीएसए तकनीक आधारित आक्सीजन प्लांट्स एक करोड़ 60 लाख रुपये की लागत से लगाये जा रहे हैं।    इनमें 300 से 400 लीटर प्रति मिनट ऑक्सीजन बनेगी, जो लगभग 50 बेड्स के लिए पर्याप्त होगी। इस नवीनतम तकनीक से ऑक्सीजन प्लांट्स लगाने वाला मध्य प्रदेश, देश का पहला राज्य है। इसके साथ ही राज्‍य में सरकारी अस्पतालों के बेड्स को ऑक्सीजन बेड्स में परिवर्तित करने के लिए पाइप लाइन डालने का कार्य भी युद्ध स्तर पर जारी है।    अब तक लग गए ऑक्‍सीजन के 20 प्लांट  स्वास्थ्य आयुक्त आकाश त्रिपाठी कहते हैं कि राज्य सरकार द्वारा मेडिकल कॉलेज, जिला अस्पताल, सिविल अस्पताल और कम्युनिटी हॉस्टिपटल में 111 हवा से ऑक्सीजन बनाने की अनूठी टेक्नोलॉजी पर आधारित पीएसए (प्रेशर स्विंग, एडजॉर्व्सन) ऑक्सीजन प्लांट लगाने के ऑर्डर दिये गये थे। शासन द्वारा जारी आदेश के अनुक्रम में अब तक 20 प्लांट लगाये जा चुके हैं।   111 पीएसए ऑक्सीजन प्लांट 30 सितम्बर तक लग जाएंगे यहां  वे बताते हैं कि पीएसए ऑक्सीजन प्लांट को समय पर लगाने के लिये संबंधित निर्माता कम्पनियों को निर्देशित किया गया है। 15 जून तक 25 और 30 जुलाई तक 81 ऑक्सीजन प्लांट स्थापित कर दिये जाएंगे। जबकि 30 अगस्त तक 91 और 30 सितम्बर तक पूरे 111 पीएसए ऑक्सीजन प्लांट की स्थापना अस्पतालों में कर दी जायेगी।    इनसे अस्पताल के लिये ऑक्सीजन की आपूर्ति सुनिश्चित होगी। अस्पतालों में उपलब्ध ऑक्सीजन बेड और आईसीयू आदि को ध्यान में रखते हुए जरूरत की ऑक्सीजन आपूर्ति सुनिश्चित हो सके, इसी अनुक्रम में क्षमता के पीएसए प्लांट लगाये जा रहे हैं।    केन्द्र और राज्य सरकार की मद से प्राप्त राशि से हो रहा पूरा कार्य  उनका कहना है कि इसमें 100 लीटर प्रति मिनिट से लेकर 1500 लीटर प्रति मिनिट की क्षमता वाले पीएसए प्लांट शामिल हैं। पीएसए प्लांट्स की स्थापना 10 बिस्तर के आईसीयू अस्पतालों से लेकर 150 बिस्तर (आईसीयू) वाले अस्पतालों में ऑक्सीजन की आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिये की जा रही है। उन्होंने बताया कि पीएसए ऑक्सीजन प्लांट्स की स्थापना केन्द्र सरकार और राज्य सरकार की मद से प्राप्त राशि से की गई है।

Dakhal News

Dakhal News 14 June 2021


indore, 82 new cases,corona found, two people also died

इंदौर। मध्यप्रदेश की आर्थिक राजधानी इंदौर में कोरोना संक्रमण के मामलों में राहत मिली है। यहां कोरोना के नये मरीजों की संख्या में तेजी से कमी आ रही है। इंदौर में लगातार दूसरे दिन नये प्रकरण 100 से नीचे आए हैं। यहां बीते 24 घंटों में कोरोना के 82 नये मामले सामने आए हैं, जबकि दो मरीजों की मौत हुई है। इसके बाद यहां संक्रमित मरीजों की कुल संख्या बढ़कर 1,52, 519 और मृतकों की संख्या 1370 हो गई है। एक दिन पहले यहां कोरोना के 96 नये मामले सामने आए थे।इंदौर के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. बी.एस सैत्या ने रविवार को बताया कि एमजीएम मेडिकल कॉलेज द्वारा शनिवार देर रात 10,017 सेम्पलों की जांच रिपोर्ट जारी की गई। इनमें 82 व्यक्ति पॉजिटिव पाए गए, जबकि शेष लोगों की रिपोर्ट निगेटिव आई। इन नये मामलों के साथ जिले में अब संक्रमित मरीजों की कुल संख्या 1 लाख, 52 हजार 519 हो गई है। वहीं, इंदौर में बीते 24 घंटों में कोरोना से दो मरीजों की मौत की पुष्टि हुई है। अब यहां मृतकों की संख्या 1370 हो गई है। हालांकि, यहां बीते 24 घंटे में 127 मरीज स्वस्थ हुए हैं। यहां अब तक 1 लाख 50 हजार 454 मरीज कोरोना को मात देकर अपने घर पहुंच गए हैं। फिलहाल इंदौर में कोरोना के सक्रिय प्रकरण 695  है।

Dakhal News

Dakhal News 13 June 2021


bhopal,1854 new cases , corona surfaced, MP, 63 people died

भोपाल। मध्यप्रदेश से कोरोना को लेकर बड़ी राहत भरी खबर है। यहां रोजाना कोरोना संक्रमण के नये मामलों में लगातार कमी देखने को मिल रही है। यहां बीते 24 घंटों में कोरोना के 1854 नये मामले सामने आए हैं, जबकि 63 लोगों की मौत हुई है। इसके बाद राज्य में संक्रमितों की कुल संख्या 07 लाख, 75 हजार, 709 और मृतकों की संख्या 7891 हो गई है। यह जानकारी स्वास्थ्य विभाग द्वारा शुक्रवार देर शाम जारी कोरोना से संबंधित हेल्थ बुलेटिन में दी गई।   नये मामलों में इंदौर- 526, भोपाल- 389, ग्वालियर- 68, जबलपुर- 103, उज्जैन- 29, सागर- 66, खरगौन- 28, रतलाम- 39, रीवा- 25, बैतूल- 24, विदिशा- 17, धार- 24, सतना- 09, नरसिंहपुर- 07, होशंगाबाद- 16, बड़वानी- 07, शिवपुरी- 27, कटनी- 07, शहडोल- 14, बालाघाट- 20, झाबुआ- 07, सीहोर- 27, छिंदवाड़ा- 05, राजगढ़- 22, रायसेन- 14, मुरैना- 48, नीमच- 17, मंदसौर- 12, देवास- 07, दमोह- 46, शाजापुर- 01, छतरपुर- 08, अनूपपुर- 30, सिंगरौली- 05, सिवनी- 15, सीधी- 21, टीकमगढ़- 07, दतिया-05, गुना- 04, खंडवा- 02, पन्ना- 09, उमरिया-04, हरदा- 01, मंडला- 05, अलिराजपुर- 04, डिंडौरी-06, अशोकनगर-03, श्योपुर- 40, भिंड- 07, बुरहानपुर- 01, आगरमालवा- 00, निवाड़ी- 16 मरीज मिले हैं। आज प्रदेश के सभी 51 जिलों में कोरोना के प्रकरण पाये गए। आगर मालवा जिला पूरी तरह से कोरोना मुक्त हो चुका है। यहां कोरोना संक्रमण के एक भी पॉजिटिव मामले नहीं आए है।   बुलेटिन के अनुसार, आज प्रदेशभर में 72,210 सेम्पलों की जांच रिपोर्ट प्राप्त हुई। इनमें 1854 पॉजिटिव और 70,356 रिपोर्ट निगेटिव आईं, जबकि 115 सेम्पल रिजेक्ट हुए। पाजिटिव प्रकरणों का प्रतिशत 02.5 रहा। इसके बाद राज्य में संक्रमित मरीजों की कुल संख्या बढक़र 07,75, 709 हो गई है। इनमें सबसे अधिक इंदौर में 148448, भोपाल- 120039, ग्वालियर- 52680, जबलपुर- 49510, उज्जैन- 18668, सागर- 16276, खरगौन- 13724, रतलाम- 17540, रीवा- 16238, बैतूल- 12607, विदिशा- 11773, धार- 12353, सतना- 11876, नरसिंहपुर- 11103, बड़वानी- 8268, होशंगाबाद- 10540, शिवपुरी- 12305, कटनी- 9340, बालाघाट- 8955, शहडोल- 10012, छिंदवाड़ा- 6623, झाबुआ- 7649, सिहोर- 9989, राजगढ़- 8480, रायसेन- 9062, नीमच- 7801, मुरैना- 8077, मंदसौर- 8513, देवास- 7664, शाजापुर- 6258, दमोह- 7935, छतरपुर- 7545, अनूपपुर- 9076, सिवनी- 6653, सिंगरौली- 8745, सीधी- 9110, टीकमगढ़- 6820, दतिया- 6884, खंडवा- 4022, गुना- 5035, पन्ना- 7211, उमरिया- 6213, हरदा- 4970, मंडला- 5163, अलिराजपुर- 3486, डिंडौरी- 4576, अशोकनगर- 3580, श्योपुर- 3928, भिंड- 2973, बुरहानपुर- 2546, आगरमालवा- 3258, निवाड़ी- 3609 मरीज शामिल हैं।   राज्य में आज कोरोना से 63 मरीजों की मौत की पुष्टि हुई है। मृतकों में इंदौर, रीवा और भोपाल में चार, ग्वालियर और जबलपुर में सात, सागर में नौ, विदिशा में छह, बैतूल में पांच, दमोह में तीन, रतलाम में दो, खरगौन, शिवपुरी, सतना, नरसिंहपुर, कटनी, अनूपपुर, बालाघाट, छतरपुर, टीकमगढ़, हरदा, श्योपुर और भिंड जिले के एक-एक मरीज शामिल है। इसके बाद राज्य में मृतकों की संख्या बढक़र 7891 हो गई है।        मृतकों में सबसे अधिक इंदौर- 1331, भोपाल- 928, ग्वालियर- 563, जबलपुर- 586, उज्जैन- 169, सागर- 262, खरगौन- 218, रतलाम- 302, रीवा- 109, बैतूल- 181, विदिशा- 184, धार- 123, सतना- 108, नरसिंहपुर- 77, बड़वानी- 83, होशंगाबाद- 97, शिवपुरी- 103, कटनी- 106, बालाघाट- 61, शहडोल- 117, छिंदवाड़ा- 120, झाबुआ- 52, सिहोर- 49, राजगढ़- 112, रायसेन- 182, नीमच- 84, मुरैना- 78, मंदसौर- 81, देवास- 46, शाजापुर- 52, दमोह- 153, छतरपुर- 88, अनूपपुर- 75, सिवनी- 28, सिंगरौली- 73, सीधी- 85, टीकमगढ़- 104, दतिया- 74, खंडवा- 94, गुना- 44, पन्ना- 55, उमरिया- 57, हरदा- 85, मंडला- 17, अलिराजपुर- 45, डिंडौरी- 28, अशोकनगर- 26, श्योपुर- 58, भिंड- 26, बुरहानपुर- 37, आगरमालवा- 32, निवाड़ी- 43 व्यक्ति शामिल है।   बुलेटिन के अनुसार, राज्य में अब तक 7,33,496 मरीज कोरोना को मात देकर अपने घर पहुंच चुके हैं। इनमें 5796 मरीज शुक्रवार को स्वस्थ हुए। अब यहां कोरोना के सक्रिय प्रकरण 34322 हो गए हैं। बता दें कि मप्र में फरवरी के दूसरे सप्ताह में सक्रिय प्रकरण एक हजार के नीचे पहुंच गए थे, लेकिन स्वस्थ होने वाले मरीजों की तुलना में नये मामले अधिक संख्या में आने के कारण यहां सक्रिय प्रकरण लगातार बढ़ते जा रहे थे। हांलाकि अब सक्रिय मामलों में भी धीरे धीरे कमी देखने को मिल रही है। 

Dakhal News

Dakhal News 28 May 2021


bhopal, Pro. Sunil Kumar, appointed Vice Chancellor,Rajiv Gandhi University

भोपाल। राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने राजीव गांधी प्रौद्योगिकी विश्‍वविद्यालय का कुलपति प्रो. सुनील कुमार को नियुक्त किया है। राज्यपाल ने यह कार्रवाई राजीव गांधी प्रौद्योगिकी विश्‍वविद्यालय अधिनियम, 1998  की धारा 12 की उपधारा (1) में प्रदत्त शक्तियों के तहत की है। यह जानकारी गुरुवार को जनसंपर्क अधिकारी अजय वर्मा ने दी।    उन्‍होंने बताया कि राजीव गांधी प्रौद्योगिकी विश्‍वविद्यालय के कुलपति के रूप में प्रो. सुनील कुमार का कार्यकाल, कार्यभार ग्रहण करने की तिथि से चार वर्ष की कालावधि के लिए होगा।

Dakhal News

Dakhal News 27 May 2021


bhopal, MP New guidelines, issued, Kovid-19 vaccination , government institutions

भोपाल। प्रदेश में शासकीय संस्थाओं में संचालित किये जा रहे 18 से 44 आयु संवर्ग के कोविड-19 टीकाकरण के लिए राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन संचालक छवि भारद्वाज ने समस्त मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी एवं जिला टीकाकरण अधिकारी को नवीन दिशा निर्देश जारी किये हैं। यह जानकारी गुरुवार को जनसंपर्क अधिकारी के.के. जोशी ने दी।   स्लॉट बुकिंग के बाद भी टीका लगाने नहीं पहुंचे तो ऑनसाईट होगा रजिस्ट्रेशन मिशन संचालक भारद्वाज द्वारा जारी परिपत्र में 18 से 44 आयु संवर्ग के कोविड-19 टीकाकरण के लिए प्रदेश के 4 महानगरों में भोपाल, इंदौर, ग्वालियर, जबलपुर और 12 नगर निगम क्षेत्रों बुरहानपुर, छिंदवाड़ा, सतना, रीवा, देवास, कटनी, खण्डवा, मुरैना, रतलाम, सागर, सिंगरौली एवं उज्जैन में 100 प्रतिशत टीकाकरण ऑनलाईन रजिस्ट्रेशन के आधार पर किये जायेंगे। स्लॉट बुकिंग के बाद भी लाभार्थी टीका लगाने उपस्थित नहीं होते हैं ऐसी स्थिति में टीकाकरण केन्द्रों पर शेष वैक्सीन का उपयोग शाम 4 बजे के उपरांत ऑनसाईट बुकिंग के आधार पर किया जाए। इसकी संख्या 20 प्रतिशत से अधिक न हो।   परिपत्र में निर्देश है कि शेष जिला मुख्यालयों पर 100 प्रतिशत ऑनलाईन बुकिंग के आधार पर टीकाकरण किया जाये। परिपत्र में यह भी निर्देश है कि जिला मुख्यालय पर एक से अधिक स्थलों पर टीकाकरण सत्र संचालित होने की स्थिति में कुछ सत्रों को सुविधानुसार टीकाकरण के लिए जिला टीकाकरण अधिकारी की अनुशंसा पर कलेक्टर द्वारा ऑनसाईट बुकिंग का निर्णय लिया जा सकता है।   ग्रामीण अंचलों में ऑनसाईट बुकिंग से लगेगी वैक्सीन परिपत्र में जिला मुख्यालयों को छोड़कर प्रदेश के शेष समस्त ग्रामीण अंचलों में कोविड-19 वैक्सीनेशन 100 प्रतिशत ऑनसाईट बुकिंग के माध्यम से किया जायेगा। ऑनसाईट सत्र स्थलों पर टोकन सिस्टम की व्यवस्था की जाये, जिससे पहले आने वाले व्यक्ति का पहले वैक्सीनेशन किया जा सके। शासकीय टीकाकरण केन्द्रों पर कार्यरत अधिकारी/कर्मचारी के परिवार के सदस्यों एवं आश्रित सदस्यों का टीकाकरण उसी केन्द्र में किया जा सकता है। सभी निर्देश शासकीय टीकाकरण सत्रों में लागू होगा।

Dakhal News

Dakhal News 27 May 2021


bhopal, Pre monsoon activities, begin in MP

भोपाल। नौतपा शुरू हो चुका है, इसके चलते अधिकतम और न्यूनतम तापमान में बढ़ोत्तरी दर्ज की गई है और मौसम शुष्क ही बना हुआ है। मौसम विभाग के मुताबिक नौतपा में मध्य प्रदेश के इंदौर, जबलपुर और होशंगाबाद संभाग में बारिश के आसार हैं। उत्तरी बंगाल की खाड़ी में एक तूफान सक्रिय है और यह मंगलवार को प्रभावशाली होकर तीव्र चक्रवाती तूफान में तब्दील होगा, इसके कारण हवाएं चलेंगी, इसका असर 28 मई तक पूर्वी मध्यप्रदेश में रहेगा।   वरिष्ठ मौसम वैज्ञानिक अजय शुक्ला ने जानकारी देते हुए बताया कि 28-29 मई के आसपास पश्चिमी विक्षोभ भी सक्रिय होगा जिसके कारण अरब सागर से नमी आने की संभावना है, मौसम विभाग के अनुसार मध्यप्रदेश के इंदौर, जबलपुर व होशंगाबाद संभाग में कुछ स्थानों पर बारिश होने की संभावना है, वहीं आगामी दो दिनों तक मौसम इसी तरह बना रहेगा। मौसम विज्ञानियों के मुताबिक गुरूवार को भी राजधानी सहित प्रदेश के अधिकांश जिलों में अधिकतम तापमान में बढ़ोत्तरी होने के आसार हैं। 28 मई तक तापमान में बढ़ोतरी का सिलसिला बना रहेगा। इसके बाद बादल छाने और गरज-चमक की स्थिति बनने की भी संभावना है।

Dakhal News

Dakhal News 27 May 2021


bhopal, MP Infection rate , 5 percent, deaths not decreasing

भोपाल। मध्यप्रदेश में कोरोना अब काबू में आता दिखाई दे रहा है। पिछले 24 घंटे में प्रदेश में 3,844 नए मरीज मिले हैं। इससे पहले 5 अप्रैल को 3,722 केस मिले थे। प्रदेश में अब संक्रमण दर भी बीते 20 दिनों में 15 प्रतिशत  घटकर 5 प्रतिशत पर आ गई है। विश्व स्वास्थ्य संगठन की गाइड लाइन के अनुसार संक्रमण दर 3 प्रतिशत होना चाहिए, तभी कोरोना को नियंत्रण में माना जाएगा।     प्रदेश में संक्रमण दर भले ही कम हो रही है, लेकिन कोरोना से मरने वालों की संख्या कम नहीं हो रही है। सरकारी रिकार्ड में दर्ज आंकड़ों के मुताबिक कोरोना से अब तक 7,483 मौतें हो चुकी है। इसमें 21 मई को हुई 89 मौतें भी शामिल हैं। इसमें सबसे ज्यादा भोपाल में 10 मौतें दर्ज की गई। जबकि ग्वालियर में 9, इंदौर  में 7 और जबलपुर में 4 मौतें होना बताया गया है। अप्रैल में 1,798 मौतें हुई, जो कुल मौतों का 24% है। जबकि मई माह में अब तक 1,671 मौतें कोरोना से हो चुकी है।   प्रदेश में एक्टिव केस का आंकड़ा भी लगातार कम होता जा रहा है। स्वास्थ्य विभाग की ताजा रिपोर्ट के अनुसार प्रदेश में अब 62,053 एक्टिव केस हैं। प्रदेश के इंदौर, भोपाल, ग्वालियर, जबलपुर, उज्जैन व रतलाम में ही 2 हजार से ज्यादा एक्टिव केस हैं। इंदौर में यह संख्या 9,432 है। यहां 35 दिन बाद एक्टिव केस का आंकड़ा 10 हजार से नीचे पहुंचा है। इन छह जिलों में कारोना कर्फ्यू में छूट मिलने की फिलहाल कोई उम्मीद नहीं है।   प्रदेश के 5 जिलों में ही 10  प्रतिशतसे अधिक पॉजिटिविटी रेट  है। सर्वाधिक भोपाल जिले में 15 प्रतिशत, इंदौर में 13 प्रतिशत रीवा में 13 प्रतिशत उज्जैन में 12 प्रतिशत तथा अनूपपुर जिले में 11 प्रतिशत पॉजिटिविटी दर है। प्रदेश के 17 जिलों छतरपुर, टीकमगढ़, दतिया, मुरैना, गुना, श्योपुर, अशोकनगर, छिंदवाड़ा, हरदा, भिंड, बुरहानपुर, मंडला, झाबुआ, निवाड़ी अलीराजपुर, खंडवा तथा बड़वानी में साप्ताहिक पॉजिटिविटी रेट 5 प्रतिशत से भी कम है।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


indore, MP Two girls spying,Pakistan arrested

इंदौर। इंटेलीजेंस की टीम ने महू सैन्य थाना इलाके से जासूसी के संदेह में दो युवतियों को दबोचा है। दोनों युवतियां पाकिस्तान के युवकों के संपर्क में थीं। दोनों के पाकिस्तान से कनेक्शन की बात सामने आने से इलाके में हडक़ंप मचा हुआ है। कई महत्पूर्ण जानकारी दूसरे देश को भेजने की बात भी अब तक सामने आई है। पकड़ी गईं दोनों बहनों से पूछताछ जारी है।    अधिकारिक सूत्रों के मुताबिक दोनों महू सैन्य क्षेत्र के सेना के कुछ अफसरों के टच में थीं। आईजी हरिनारायण चारी मिश्रा ने घटना की पुष्टि करते हुए फिलहाल इतना बताया है कि जानकारी मिलिट्री इंटेलिजेंस से ही साझा की गई है। सैन्य अफसरों के साथ कोई हनीट्रैप की साजिश की आशंका भी बताई जा रही है।फिलहाल शहर से करीब 24 किलोमीटर दूर महू के सैन्य क्षेत्र की जासूसी के संदेह में इन दो सगी बहनों को हिरासत में लेकर जांच एजेंसियों द्वारा उनसे लगातार पूछताछ की जा रही है।    वहीं उनके सोशल मीडिया अकाउंट भी खंगाले जा रहे हैं। सूत्रों के मुताबिक एक युवती ने अधिकारियों को पूछताछ में बताया है कि पाकिस्तान में एक युवक से वह सोशल मीडिया पर शादी के इरादे से बात करती थी।दोनों युवतियों द्वारा पाकिस्तान में बात करने का खुलासा होते ही आईबी, एटीएस, दिल्ली क्राइम ब्रांच और यूपी पुलिस लगातार पूछताछ कर रही है। अब तक की जांच में यह भी पता चला है कि ये युवतियां चार मोबाइल सिम का इस्तेमाल करती थी। इनके पास से मिले मोबाइल, लैपटाप और अन्य गैजेट्स की जांच की जा रही है। युवतियों के द्वारा सेना की जासूसी किए जाने की शंका है।   सुरक्षा एजेंसियों की टीमें करीब तीन दिन से इन युवतियों से पूछताछ कर रही है। गवली पलासिया इलाके की यदुनंदन पाटीदार कालोनी में सेना से रिटाययर्ड चांद खा के घर दबिश के बाद उनकी बेटी हिना और कौसर को हिरासत में लिया गया है । घर से उनके जीजा को भी पकड़ा था। इंटरनेशनल कॉल सर्विलांस के माध्यम से उनकी मोबाइल की लोकेशन एटीएस ने पकड़ी तो दिल्ली से टीम जांच करने महू आ गई। इंटेलिजेंस एजेंसियों को ऐसा शक है कि युवतियां पाकिस्तान के कुछ लोगों से सोशल मीडिया और इंटरनेट कालिंग के जरिए संपर्क में थीं। इनके मोबाइल फोन और अन्य डिवाइस जब्त की है।    दोनों युवतियां अपने पिता चांद खान निधन के बाद महू क्षेत्र में ही रह रही थीं। कुछ सालों से हिना बिजली कंपनी में कंप्यूटर ऑपरेटर की नौकरी कर रही थीं। यासीन किसी स्कूल में टीचर थी। जानकारी के मुताबिक कुछ दिन पूर्व संदिग्ध कॉल ट्रेस होने के बाद कई एजेंसियां अलर्ट पर आ गई थी। इसके बाद दिल्ली क्राइम ब्रांच और अन्य एजेंसियों ने युवतियों से पूछताछ शुरू कर दी। इस संबंध में जब अधिकृत अधिकारी से बात करने की कोशिश की गई तो कोई भी अधिकारी जानकारी नहीं दे रहा है।   पुलिस ने पूछताछ की तो एक युवती ने कहा, पाकिस्तान के युवक से सोशल मीडिया के माध्यम से बात करती थी। शादी के इरादे से वह दोनों बात करते थे। लेकिन अभी एजेंसियां यह मान रही हैं कि शायद इस मामले को अलग दिशा देने के उद्देश्य से यह बयान युवती दे रही है। मामले की गंभीरता को देखते हुए अन्य साक्ष्य जुटाने में सभी एजेंसियां लगी हुई हैं।   जांच चल रही है इस संबंध में आईजी हरिनारायणचारी मिश्रा का कहना है कि जांच चल रही है। युवतियों की किन पाकिस्तानी युवकों से बात होती थी। उसकी पुष्टि की जा रही है।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


bhopal,Public curfew ,remain in Bhopal ,till June 1 morning

भोपाल। कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट, भोपाल अविनाश लवानिया ने भोपाल में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के दृष्टिगत जनता कर्फ्यू को एक जून  को प्रातः छह बजे तक जारी रखने के आदेश दिये हैं।    इस संबंध में जिला दंडाधिकारी अविनाश लवानिया ने शनिवार को धारा 144 के अंतर्गत संशोधित आदेश जारी करते हुए भोपाल जिले की राजस्व सीमा में कोरोना कर्फ्यू को एक जून तक बढ़ा दिया है। शेष सभी प्रतिबंधात्मक आदेश पूर्ववत रहेंगे। उन्‍होंने कहा है कि अत्यंत विशेष परिस्थितियों में सक्षम अधिकारी के संतुष्ट होने पर आवेदक को किसी भी लागू शर्तों से छूट दी जा सकेगी। यह आदेश तत्काल  प्रभावशील होगा। इस आदेश का उल्लघंन करने वाले व्यक्ति के विरूद्व भारतीय दण्ड संहिता की धारा 188 के अंतर्गत कार्यवाही की जायेगी।   उल्‍लेखनीय है कि एक दिन पूर्व ही सीएम शिवराज ने प्रदेश भर के जिलों की समीक्षा के दौरान भोपाल संभाग की कोरोना की समीक्षा में सख्ती के साथ कोरोना कर्फ्यू बढ़ाने के निर्देश दिए थे। जिसमें उनका साफ कहना था कि अभी राजधानी भोपाल में संक्रमण दर भले ही कम हो गई हो, लेकिन यहां ढील देना ठीक नहीं होगा।  यदि ऐसा किया गया तो यह ढील फिर से संक्रमण को बढ़ा सकती है।इसलिए इस पर सभी जिलाधीशों को गहराई से विचार करना होगा।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


bhopal,1854 new cases , corona surfaced, MP, 63 people died

भोपाल। मध्यप्रदेश से कोरोना को लेकर बड़ी राहत भरी खबर है। यहां रोजाना कोरोना संक्रमण के नये मामलों में लगातार कमी देखने को मिल रही है। यहां बीते 24 घंटों में कोरोना के 1854 नये मामले सामने आए हैं, जबकि 63 लोगों की मौत हुई है। इसके बाद राज्य में संक्रमितों की कुल संख्या 07 लाख, 75 हजार, 709 और मृतकों की संख्या 7891 हो गई है। यह जानकारी स्वास्थ्य विभाग द्वारा शुक्रवार देर शाम जारी कोरोना से संबंधित हेल्थ बुलेटिन में दी गई।   नये मामलों में इंदौर- 526, भोपाल- 389, ग्वालियर- 68, जबलपुर- 103, उज्जैन- 29, सागर- 66, खरगौन- 28, रतलाम- 39, रीवा- 25, बैतूल- 24, विदिशा- 17, धार- 24, सतना- 09, नरसिंहपुर- 07, होशंगाबाद- 16, बड़वानी- 07, शिवपुरी- 27, कटनी- 07, शहडोल- 14, बालाघाट- 20, झाबुआ- 07, सीहोर- 27, छिंदवाड़ा- 05, राजगढ़- 22, रायसेन- 14, मुरैना- 48, नीमच- 17, मंदसौर- 12, देवास- 07, दमोह- 46, शाजापुर- 01, छतरपुर- 08, अनूपपुर- 30, सिंगरौली- 05, सिवनी- 15, सीधी- 21, टीकमगढ़- 07, दतिया-05, गुना- 04, खंडवा- 02, पन्ना- 09, उमरिया-04, हरदा- 01, मंडला- 05, अलिराजपुर- 04, डिंडौरी-06, अशोकनगर-03, श्योपुर- 40, भिंड- 07, बुरहानपुर- 01, आगरमालवा- 00, निवाड़ी- 16 मरीज मिले हैं। आज प्रदेश के सभी 51 जिलों में कोरोना के प्रकरण पाये गए। आगर मालवा जिला पूरी तरह से कोरोना मुक्त हो चुका है। यहां कोरोना संक्रमण के एक भी पॉजिटिव मामले नहीं आए है।   बुलेटिन के अनुसार, आज प्रदेशभर में 72,210 सेम्पलों की जांच रिपोर्ट प्राप्त हुई। इनमें 1854 पॉजिटिव और 70,356 रिपोर्ट निगेटिव आईं, जबकि 115 सेम्पल रिजेक्ट हुए। पाजिटिव प्रकरणों का प्रतिशत 02.5 रहा। इसके बाद राज्य में संक्रमित मरीजों की कुल संख्या बढक़र 07,75, 709 हो गई है। इनमें सबसे अधिक इंदौर में 148448, भोपाल- 120039, ग्वालियर- 52680, जबलपुर- 49510, उज्जैन- 18668, सागर- 16276, खरगौन- 13724, रतलाम- 17540, रीवा- 16238, बैतूल- 12607, विदिशा- 11773, धार- 12353, सतना- 11876, नरसिंहपुर- 11103, बड़वानी- 8268, होशंगाबाद- 10540, शिवपुरी- 12305, कटनी- 9340, बालाघाट- 8955, शहडोल- 10012, छिंदवाड़ा- 6623, झाबुआ- 7649, सिहोर- 9989, राजगढ़- 8480, रायसेन- 9062, नीमच- 7801, मुरैना- 8077, मंदसौर- 8513, देवास- 7664, शाजापुर- 6258, दमोह- 7935, छतरपुर- 7545, अनूपपुर- 9076, सिवनी- 6653, सिंगरौली- 8745, सीधी- 9110, टीकमगढ़- 6820, दतिया- 6884, खंडवा- 4022, गुना- 5035, पन्ना- 7211, उमरिया- 6213, हरदा- 4970, मंडला- 5163, अलिराजपुर- 3486, डिंडौरी- 4576, अशोकनगर- 3580, श्योपुर- 3928, भिंड- 2973, बुरहानपुर- 2546, आगरमालवा- 3258, निवाड़ी- 3609 मरीज शामिल हैं।   राज्य में आज कोरोना से 63 मरीजों की मौत की पुष्टि हुई है। मृतकों में इंदौर, रीवा और भोपाल में चार, ग्वालियर और जबलपुर में सात, सागर में नौ, विदिशा में छह, बैतूल में पांच, दमोह में तीन, रतलाम में दो, खरगौन, शिवपुरी, सतना, नरसिंहपुर, कटनी, अनूपपुर, बालाघाट, छतरपुर, टीकमगढ़, हरदा, श्योपुर और भिंड जिले के एक-एक मरीज शामिल है। इसके बाद राज्य में मृतकों की संख्या बढक़र 7891 हो गई है।        मृतकों में सबसे अधिक इंदौर- 1331, भोपाल- 928, ग्वालियर- 563, जबलपुर- 586, उज्जैन- 169, सागर- 262, खरगौन- 218, रतलाम- 302, रीवा- 109, बैतूल- 181, विदिशा- 184, धार- 123, सतना- 108, नरसिंहपुर- 77, बड़वानी- 83, होशंगाबाद- 97, शिवपुरी- 103, कटनी- 106, बालाघाट- 61, शहडोल- 117, छिंदवाड़ा- 120, झाबुआ- 52, सिहोर- 49, राजगढ़- 112, रायसेन- 182, नीमच- 84, मुरैना- 78, मंदसौर- 81, देवास- 46, शाजापुर- 52, दमोह- 153, छतरपुर- 88, अनूपपुर- 75, सिवनी- 28, सिंगरौली- 73, सीधी- 85, टीकमगढ़- 104, दतिया- 74, खंडवा- 94, गुना- 44, पन्ना- 55, उमरिया- 57, हरदा- 85, मंडला- 17, अलिराजपुर- 45, डिंडौरी- 28, अशोकनगर- 26, श्योपुर- 58, भिंड- 26, बुरहानपुर- 37, आगरमालवा- 32, निवाड़ी- 43 व्यक्ति शामिल है।   बुलेटिन के अनुसार, राज्य में अब तक 7,33,496 मरीज कोरोना को मात देकर अपने घर पहुंच चुके हैं। इनमें 5796 मरीज शुक्रवार को स्वस्थ हुए। अब यहां कोरोना के सक्रिय प्रकरण 34322 हो गए हैं। बता दें कि मप्र में फरवरी के दूसरे सप्ताह में सक्रिय प्रकरण एक हजार के नीचे पहुंच गए थे, लेकिन स्वस्थ होने वाले मरीजों की तुलना में नये मामले अधिक संख्या में आने के कारण यहां सक्रिय प्रकरण लगातार बढ़ते जा रहे थे। हांलाकि अब सक्रिय मामलों में भी धीरे धीरे कमी देखने को मिल रही है। 

Dakhal News

Dakhal News 28 May 2021


bhopal, Pro. Sunil Kumar, appointed Vice Chancellor,Rajiv Gandhi University

भोपाल। राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने राजीव गांधी प्रौद्योगिकी विश्‍वविद्यालय का कुलपति प्रो. सुनील कुमार को नियुक्त किया है। राज्यपाल ने यह कार्रवाई राजीव गांधी प्रौद्योगिकी विश्‍वविद्यालय अधिनियम, 1998  की धारा 12 की उपधारा (1) में प्रदत्त शक्तियों के तहत की है। यह जानकारी गुरुवार को जनसंपर्क अधिकारी अजय वर्मा ने दी।    उन्‍होंने बताया कि राजीव गांधी प्रौद्योगिकी विश्‍वविद्यालय के कुलपति के रूप में प्रो. सुनील कुमार का कार्यकाल, कार्यभार ग्रहण करने की तिथि से चार वर्ष की कालावधि के लिए होगा।

Dakhal News

Dakhal News 27 May 2021


bhopal, MP New guidelines, issued, Kovid-19 vaccination , government institutions

भोपाल। प्रदेश में शासकीय संस्थाओं में संचालित किये जा रहे 18 से 44 आयु संवर्ग के कोविड-19 टीकाकरण के लिए राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन संचालक छवि भारद्वाज ने समस्त मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी एवं जिला टीकाकरण अधिकारी को नवीन दिशा निर्देश जारी किये हैं। यह जानकारी गुरुवार को जनसंपर्क अधिकारी के.के. जोशी ने दी।   स्लॉट बुकिंग के बाद भी टीका लगाने नहीं पहुंचे तो ऑनसाईट होगा रजिस्ट्रेशन मिशन संचालक भारद्वाज द्वारा जारी परिपत्र में 18 से 44 आयु संवर्ग के कोविड-19 टीकाकरण के लिए प्रदेश के 4 महानगरों में भोपाल, इंदौर, ग्वालियर, जबलपुर और 12 नगर निगम क्षेत्रों बुरहानपुर, छिंदवाड़ा, सतना, रीवा, देवास, कटनी, खण्डवा, मुरैना, रतलाम, सागर, सिंगरौली एवं उज्जैन में 100 प्रतिशत टीकाकरण ऑनलाईन रजिस्ट्रेशन के आधार पर किये जायेंगे। स्लॉट बुकिंग के बाद भी लाभार्थी टीका लगाने उपस्थित नहीं होते हैं ऐसी स्थिति में टीकाकरण केन्द्रों पर शेष वैक्सीन का उपयोग शाम 4 बजे के उपरांत ऑनसाईट बुकिंग के आधार पर किया जाए। इसकी संख्या 20 प्रतिशत से अधिक न हो।   परिपत्र में निर्देश है कि शेष जिला मुख्यालयों पर 100 प्रतिशत ऑनलाईन बुकिंग के आधार पर टीकाकरण किया जाये। परिपत्र में यह भी निर्देश है कि जिला मुख्यालय पर एक से अधिक स्थलों पर टीकाकरण सत्र संचालित होने की स्थिति में कुछ सत्रों को सुविधानुसार टीकाकरण के लिए जिला टीकाकरण अधिकारी की अनुशंसा पर कलेक्टर द्वारा ऑनसाईट बुकिंग का निर्णय लिया जा सकता है।   ग्रामीण अंचलों में ऑनसाईट बुकिंग से लगेगी वैक्सीन परिपत्र में जिला मुख्यालयों को छोड़कर प्रदेश के शेष समस्त ग्रामीण अंचलों में कोविड-19 वैक्सीनेशन 100 प्रतिशत ऑनसाईट बुकिंग के माध्यम से किया जायेगा। ऑनसाईट सत्र स्थलों पर टोकन सिस्टम की व्यवस्था की जाये, जिससे पहले आने वाले व्यक्ति का पहले वैक्सीनेशन किया जा सके। शासकीय टीकाकरण केन्द्रों पर कार्यरत अधिकारी/कर्मचारी के परिवार के सदस्यों एवं आश्रित सदस्यों का टीकाकरण उसी केन्द्र में किया जा सकता है। सभी निर्देश शासकीय टीकाकरण सत्रों में लागू होगा।

Dakhal News

Dakhal News 27 May 2021


bhopal, Pre monsoon activities, begin in MP

भोपाल। नौतपा शुरू हो चुका है, इसके चलते अधिकतम और न्यूनतम तापमान में बढ़ोत्तरी दर्ज की गई है और मौसम शुष्क ही बना हुआ है। मौसम विभाग के मुताबिक नौतपा में मध्य प्रदेश के इंदौर, जबलपुर और होशंगाबाद संभाग में बारिश के आसार हैं। उत्तरी बंगाल की खाड़ी में एक तूफान सक्रिय है और यह मंगलवार को प्रभावशाली होकर तीव्र चक्रवाती तूफान में तब्दील होगा, इसके कारण हवाएं चलेंगी, इसका असर 28 मई तक पूर्वी मध्यप्रदेश में रहेगा।   वरिष्ठ मौसम वैज्ञानिक अजय शुक्ला ने जानकारी देते हुए बताया कि 28-29 मई के आसपास पश्चिमी विक्षोभ भी सक्रिय होगा जिसके कारण अरब सागर से नमी आने की संभावना है, मौसम विभाग के अनुसार मध्यप्रदेश के इंदौर, जबलपुर व होशंगाबाद संभाग में कुछ स्थानों पर बारिश होने की संभावना है, वहीं आगामी दो दिनों तक मौसम इसी तरह बना रहेगा। मौसम विज्ञानियों के मुताबिक गुरूवार को भी राजधानी सहित प्रदेश के अधिकांश जिलों में अधिकतम तापमान में बढ़ोत्तरी होने के आसार हैं। 28 मई तक तापमान में बढ़ोतरी का सिलसिला बना रहेगा। इसके बाद बादल छाने और गरज-चमक की स्थिति बनने की भी संभावना है।

Dakhal News

Dakhal News 27 May 2021


bhopal, MP Infection rate , 5 percent, deaths not decreasing

भोपाल। मध्यप्रदेश में कोरोना अब काबू में आता दिखाई दे रहा है। पिछले 24 घंटे में प्रदेश में 3,844 नए मरीज मिले हैं। इससे पहले 5 अप्रैल को 3,722 केस मिले थे। प्रदेश में अब संक्रमण दर भी बीते 20 दिनों में 15 प्रतिशत  घटकर 5 प्रतिशत पर आ गई है। विश्व स्वास्थ्य संगठन की गाइड लाइन के अनुसार संक्रमण दर 3 प्रतिशत होना चाहिए, तभी कोरोना को नियंत्रण में माना जाएगा।     प्रदेश में संक्रमण दर भले ही कम हो रही है, लेकिन कोरोना से मरने वालों की संख्या कम नहीं हो रही है। सरकारी रिकार्ड में दर्ज आंकड़ों के मुताबिक कोरोना से अब तक 7,483 मौतें हो चुकी है। इसमें 21 मई को हुई 89 मौतें भी शामिल हैं। इसमें सबसे ज्यादा भोपाल में 10 मौतें दर्ज की गई। जबकि ग्वालियर में 9, इंदौर  में 7 और जबलपुर में 4 मौतें होना बताया गया है। अप्रैल में 1,798 मौतें हुई, जो कुल मौतों का 24% है। जबकि मई माह में अब तक 1,671 मौतें कोरोना से हो चुकी है।   प्रदेश में एक्टिव केस का आंकड़ा भी लगातार कम होता जा रहा है। स्वास्थ्य विभाग की ताजा रिपोर्ट के अनुसार प्रदेश में अब 62,053 एक्टिव केस हैं। प्रदेश के इंदौर, भोपाल, ग्वालियर, जबलपुर, उज्जैन व रतलाम में ही 2 हजार से ज्यादा एक्टिव केस हैं। इंदौर में यह संख्या 9,432 है। यहां 35 दिन बाद एक्टिव केस का आंकड़ा 10 हजार से नीचे पहुंचा है। इन छह जिलों में कारोना कर्फ्यू में छूट मिलने की फिलहाल कोई उम्मीद नहीं है।   प्रदेश के 5 जिलों में ही 10  प्रतिशतसे अधिक पॉजिटिविटी रेट  है। सर्वाधिक भोपाल जिले में 15 प्रतिशत, इंदौर में 13 प्रतिशत रीवा में 13 प्रतिशत उज्जैन में 12 प्रतिशत तथा अनूपपुर जिले में 11 प्रतिशत पॉजिटिविटी दर है। प्रदेश के 17 जिलों छतरपुर, टीकमगढ़, दतिया, मुरैना, गुना, श्योपुर, अशोकनगर, छिंदवाड़ा, हरदा, भिंड, बुरहानपुर, मंडला, झाबुआ, निवाड़ी अलीराजपुर, खंडवा तथा बड़वानी में साप्ताहिक पॉजिटिविटी रेट 5 प्रतिशत से भी कम है।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


indore, MP Two girls spying,Pakistan arrested

इंदौर। इंटेलीजेंस की टीम ने महू सैन्य थाना इलाके से जासूसी के संदेह में दो युवतियों को दबोचा है। दोनों युवतियां पाकिस्तान के युवकों के संपर्क में थीं। दोनों के पाकिस्तान से कनेक्शन की बात सामने आने से इलाके में हडक़ंप मचा हुआ है। कई महत्पूर्ण जानकारी दूसरे देश को भेजने की बात भी अब तक सामने आई है। पकड़ी गईं दोनों बहनों से पूछताछ जारी है।    अधिकारिक सूत्रों के मुताबिक दोनों महू सैन्य क्षेत्र के सेना के कुछ अफसरों के टच में थीं। आईजी हरिनारायण चारी मिश्रा ने घटना की पुष्टि करते हुए फिलहाल इतना बताया है कि जानकारी मिलिट्री इंटेलिजेंस से ही साझा की गई है। सैन्य अफसरों के साथ कोई हनीट्रैप की साजिश की आशंका भी बताई जा रही है।फिलहाल शहर से करीब 24 किलोमीटर दूर महू के सैन्य क्षेत्र की जासूसी के संदेह में इन दो सगी बहनों को हिरासत में लेकर जांच एजेंसियों द्वारा उनसे लगातार पूछताछ की जा रही है।    वहीं उनके सोशल मीडिया अकाउंट भी खंगाले जा रहे हैं। सूत्रों के मुताबिक एक युवती ने अधिकारियों को पूछताछ में बताया है कि पाकिस्तान में एक युवक से वह सोशल मीडिया पर शादी के इरादे से बात करती थी।दोनों युवतियों द्वारा पाकिस्तान में बात करने का खुलासा होते ही आईबी, एटीएस, दिल्ली क्राइम ब्रांच और यूपी पुलिस लगातार पूछताछ कर रही है। अब तक की जांच में यह भी पता चला है कि ये युवतियां चार मोबाइल सिम का इस्तेमाल करती थी। इनके पास से मिले मोबाइल, लैपटाप और अन्य गैजेट्स की जांच की जा रही है। युवतियों के द्वारा सेना की जासूसी किए जाने की शंका है।   सुरक्षा एजेंसियों की टीमें करीब तीन दिन से इन युवतियों से पूछताछ कर रही है। गवली पलासिया इलाके की यदुनंदन पाटीदार कालोनी में सेना से रिटाययर्ड चांद खा के घर दबिश के बाद उनकी बेटी हिना और कौसर को हिरासत में लिया गया है । घर से उनके जीजा को भी पकड़ा था। इंटरनेशनल कॉल सर्विलांस के माध्यम से उनकी मोबाइल की लोकेशन एटीएस ने पकड़ी तो दिल्ली से टीम जांच करने महू आ गई। इंटेलिजेंस एजेंसियों को ऐसा शक है कि युवतियां पाकिस्तान के कुछ लोगों से सोशल मीडिया और इंटरनेट कालिंग के जरिए संपर्क में थीं। इनके मोबाइल फोन और अन्य डिवाइस जब्त की है।    दोनों युवतियां अपने पिता चांद खान निधन के बाद महू क्षेत्र में ही रह रही थीं। कुछ सालों से हिना बिजली कंपनी में कंप्यूटर ऑपरेटर की नौकरी कर रही थीं। यासीन किसी स्कूल में टीचर थी। जानकारी के मुताबिक कुछ दिन पूर्व संदिग्ध कॉल ट्रेस होने के बाद कई एजेंसियां अलर्ट पर आ गई थी। इसके बाद दिल्ली क्राइम ब्रांच और अन्य एजेंसियों ने युवतियों से पूछताछ शुरू कर दी। इस संबंध में जब अधिकृत अधिकारी से बात करने की कोशिश की गई तो कोई भी अधिकारी जानकारी नहीं दे रहा है।   पुलिस ने पूछताछ की तो एक युवती ने कहा, पाकिस्तान के युवक से सोशल मीडिया के माध्यम से बात करती थी। शादी के इरादे से वह दोनों बात करते थे। लेकिन अभी एजेंसियां यह मान रही हैं कि शायद इस मामले को अलग दिशा देने के उद्देश्य से यह बयान युवती दे रही है। मामले की गंभीरता को देखते हुए अन्य साक्ष्य जुटाने में सभी एजेंसियां लगी हुई हैं।   जांच चल रही है इस संबंध में आईजी हरिनारायणचारी मिश्रा का कहना है कि जांच चल रही है। युवतियों की किन पाकिस्तानी युवकों से बात होती थी। उसकी पुष्टि की जा रही है।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


bhopal,Public curfew ,remain in Bhopal ,till June 1 morning

भोपाल। कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट, भोपाल अविनाश लवानिया ने भोपाल में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के दृष्टिगत जनता कर्फ्यू को एक जून  को प्रातः छह बजे तक जारी रखने के आदेश दिये हैं।    इस संबंध में जिला दंडाधिकारी अविनाश लवानिया ने शनिवार को धारा 144 के अंतर्गत संशोधित आदेश जारी करते हुए भोपाल जिले की राजस्व सीमा में कोरोना कर्फ्यू को एक जून तक बढ़ा दिया है। शेष सभी प्रतिबंधात्मक आदेश पूर्ववत रहेंगे। उन्‍होंने कहा है कि अत्यंत विशेष परिस्थितियों में सक्षम अधिकारी के संतुष्ट होने पर आवेदक को किसी भी लागू शर्तों से छूट दी जा सकेगी। यह आदेश तत्काल  प्रभावशील होगा। इस आदेश का उल्लघंन करने वाले व्यक्ति के विरूद्व भारतीय दण्ड संहिता की धारा 188 के अंतर्गत कार्यवाही की जायेगी।   उल्‍लेखनीय है कि एक दिन पूर्व ही सीएम शिवराज ने प्रदेश भर के जिलों की समीक्षा के दौरान भोपाल संभाग की कोरोना की समीक्षा में सख्ती के साथ कोरोना कर्फ्यू बढ़ाने के निर्देश दिए थे। जिसमें उनका साफ कहना था कि अभी राजधानी भोपाल में संक्रमण दर भले ही कम हो गई हो, लेकिन यहां ढील देना ठीक नहीं होगा।  यदि ऐसा किया गया तो यह ढील फिर से संक्रमण को बढ़ा सकती है।इसलिए इस पर सभी जिलाधीशों को गहराई से विचार करना होगा।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


bhopal,Public curfew ,remain in Bhopal ,till June 1 morning

भोपाल। कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट, भोपाल अविनाश लवानिया ने भोपाल में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के दृष्टिगत जनता कर्फ्यू को एक जून  को प्रातः छह बजे तक जारी रखने के आदेश दिये हैं।    इस संबंध में जिला दंडाधिकारी अविनाश लवानिया ने शनिवार को धारा 144 के अंतर्गत संशोधित आदेश जारी करते हुए भोपाल जिले की राजस्व सीमा में कोरोना कर्फ्यू को एक जून तक बढ़ा दिया है। शेष सभी प्रतिबंधात्मक आदेश पूर्ववत रहेंगे। उन्‍होंने कहा है कि अत्यंत विशेष परिस्थितियों में सक्षम अधिकारी के संतुष्ट होने पर आवेदक को किसी भी लागू शर्तों से छूट दी जा सकेगी। यह आदेश तत्काल  प्रभावशील होगा। इस आदेश का उल्लघंन करने वाले व्यक्ति के विरूद्व भारतीय दण्ड संहिता की धारा 188 के अंतर्गत कार्यवाही की जायेगी।   उल्‍लेखनीय है कि एक दिन पूर्व ही सीएम शिवराज ने प्रदेश भर के जिलों की समीक्षा के दौरान भोपाल संभाग की कोरोना की समीक्षा में सख्ती के साथ कोरोना कर्फ्यू बढ़ाने के निर्देश दिए थे। जिसमें उनका साफ कहना था कि अभी राजधानी भोपाल में संक्रमण दर भले ही कम हो गई हो, लेकिन यहां ढील देना ठीक नहीं होगा।  यदि ऐसा किया गया तो यह ढील फिर से संक्रमण को बढ़ा सकती है।इसलिए इस पर सभी जिलाधीशों को गहराई से विचार करना होगा।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


bhopal,Public curfew ,remain in Bhopal ,till June 1 morning

भोपाल। कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट, भोपाल अविनाश लवानिया ने भोपाल में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के दृष्टिगत जनता कर्फ्यू को एक जून  को प्रातः छह बजे तक जारी रखने के आदेश दिये हैं।    इस संबंध में जिला दंडाधिकारी अविनाश लवानिया ने शनिवार को धारा 144 के अंतर्गत संशोधित आदेश जारी करते हुए भोपाल जिले की राजस्व सीमा में कोरोना कर्फ्यू को एक जून तक बढ़ा दिया है। शेष सभी प्रतिबंधात्मक आदेश पूर्ववत रहेंगे। उन्‍होंने कहा है कि अत्यंत विशेष परिस्थितियों में सक्षम अधिकारी के संतुष्ट होने पर आवेदक को किसी भी लागू शर्तों से छूट दी जा सकेगी। यह आदेश तत्काल  प्रभावशील होगा। इस आदेश का उल्लघंन करने वाले व्यक्ति के विरूद्व भारतीय दण्ड संहिता की धारा 188 के अंतर्गत कार्यवाही की जायेगी।   उल्‍लेखनीय है कि एक दिन पूर्व ही सीएम शिवराज ने प्रदेश भर के जिलों की समीक्षा के दौरान भोपाल संभाग की कोरोना की समीक्षा में सख्ती के साथ कोरोना कर्फ्यू बढ़ाने के निर्देश दिए थे। जिसमें उनका साफ कहना था कि अभी राजधानी भोपाल में संक्रमण दर भले ही कम हो गई हो, लेकिन यहां ढील देना ठीक नहीं होगा।  यदि ऐसा किया गया तो यह ढील फिर से संक्रमण को बढ़ा सकती है।इसलिए इस पर सभी जिलाधीशों को गहराई से विचार करना होगा।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


bhopal,Public curfew ,remain in Bhopal ,till June 1 morning

भोपाल। कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट, भोपाल अविनाश लवानिया ने भोपाल में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के दृष्टिगत जनता कर्फ्यू को एक जून  को प्रातः छह बजे तक जारी रखने के आदेश दिये हैं।    इस संबंध में जिला दंडाधिकारी अविनाश लवानिया ने शनिवार को धारा 144 के अंतर्गत संशोधित आदेश जारी करते हुए भोपाल जिले की राजस्व सीमा में कोरोना कर्फ्यू को एक जून तक बढ़ा दिया है। शेष सभी प्रतिबंधात्मक आदेश पूर्ववत रहेंगे। उन्‍होंने कहा है कि अत्यंत विशेष परिस्थितियों में सक्षम अधिकारी के संतुष्ट होने पर आवेदक को किसी भी लागू शर्तों से छूट दी जा सकेगी। यह आदेश तत्काल  प्रभावशील होगा। इस आदेश का उल्लघंन करने वाले व्यक्ति के विरूद्व भारतीय दण्ड संहिता की धारा 188 के अंतर्गत कार्यवाही की जायेगी।   उल्‍लेखनीय है कि एक दिन पूर्व ही सीएम शिवराज ने प्रदेश भर के जिलों की समीक्षा के दौरान भोपाल संभाग की कोरोना की समीक्षा में सख्ती के साथ कोरोना कर्फ्यू बढ़ाने के निर्देश दिए थे। जिसमें उनका साफ कहना था कि अभी राजधानी भोपाल में संक्रमण दर भले ही कम हो गई हो, लेकिन यहां ढील देना ठीक नहीं होगा।  यदि ऐसा किया गया तो यह ढील फिर से संक्रमण को बढ़ा सकती है।इसलिए इस पर सभी जिलाधीशों को गहराई से विचार करना होगा।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


bhopal,Public curfew ,remain in Bhopal ,till June 1 morning

भोपाल। कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट, भोपाल अविनाश लवानिया ने भोपाल में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के दृष्टिगत जनता कर्फ्यू को एक जून  को प्रातः छह बजे तक जारी रखने के आदेश दिये हैं।    इस संबंध में जिला दंडाधिकारी अविनाश लवानिया ने शनिवार को धारा 144 के अंतर्गत संशोधित आदेश जारी करते हुए भोपाल जिले की राजस्व सीमा में कोरोना कर्फ्यू को एक जून तक बढ़ा दिया है। शेष सभी प्रतिबंधात्मक आदेश पूर्ववत रहेंगे। उन्‍होंने कहा है कि अत्यंत विशेष परिस्थितियों में सक्षम अधिकारी के संतुष्ट होने पर आवेदक को किसी भी लागू शर्तों से छूट दी जा सकेगी। यह आदेश तत्काल  प्रभावशील होगा। इस आदेश का उल्लघंन करने वाले व्यक्ति के विरूद्व भारतीय दण्ड संहिता की धारा 188 के अंतर्गत कार्यवाही की जायेगी।   उल्‍लेखनीय है कि एक दिन पूर्व ही सीएम शिवराज ने प्रदेश भर के जिलों की समीक्षा के दौरान भोपाल संभाग की कोरोना की समीक्षा में सख्ती के साथ कोरोना कर्फ्यू बढ़ाने के निर्देश दिए थे। जिसमें उनका साफ कहना था कि अभी राजधानी भोपाल में संक्रमण दर भले ही कम हो गई हो, लेकिन यहां ढील देना ठीक नहीं होगा।  यदि ऐसा किया गया तो यह ढील फिर से संक्रमण को बढ़ा सकती है।इसलिए इस पर सभी जिलाधीशों को गहराई से विचार करना होगा।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


bhopal,Public curfew ,remain in Bhopal ,till June 1 morning

भोपाल। कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट, भोपाल अविनाश लवानिया ने भोपाल में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के दृष्टिगत जनता कर्फ्यू को एक जून  को प्रातः छह बजे तक जारी रखने के आदेश दिये हैं।    इस संबंध में जिला दंडाधिकारी अविनाश लवानिया ने शनिवार को धारा 144 के अंतर्गत संशोधित आदेश जारी करते हुए भोपाल जिले की राजस्व सीमा में कोरोना कर्फ्यू को एक जून तक बढ़ा दिया है। शेष सभी प्रतिबंधात्मक आदेश पूर्ववत रहेंगे। उन्‍होंने कहा है कि अत्यंत विशेष परिस्थितियों में सक्षम अधिकारी के संतुष्ट होने पर आवेदक को किसी भी लागू शर्तों से छूट दी जा सकेगी। यह आदेश तत्काल  प्रभावशील होगा। इस आदेश का उल्लघंन करने वाले व्यक्ति के विरूद्व भारतीय दण्ड संहिता की धारा 188 के अंतर्गत कार्यवाही की जायेगी।   उल्‍लेखनीय है कि एक दिन पूर्व ही सीएम शिवराज ने प्रदेश भर के जिलों की समीक्षा के दौरान भोपाल संभाग की कोरोना की समीक्षा में सख्ती के साथ कोरोना कर्फ्यू बढ़ाने के निर्देश दिए थे। जिसमें उनका साफ कहना था कि अभी राजधानी भोपाल में संक्रमण दर भले ही कम हो गई हो, लेकिन यहां ढील देना ठीक नहीं होगा।  यदि ऐसा किया गया तो यह ढील फिर से संक्रमण को बढ़ा सकती है।इसलिए इस पर सभी जिलाधीशों को गहराई से विचार करना होगा।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


bhopal,Public curfew ,remain in Bhopal ,till June 1 morning

भोपाल। कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट, भोपाल अविनाश लवानिया ने भोपाल में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के दृष्टिगत जनता कर्फ्यू को एक जून  को प्रातः छह बजे तक जारी रखने के आदेश दिये हैं।    इस संबंध में जिला दंडाधिकारी अविनाश लवानिया ने शनिवार को धारा 144 के अंतर्गत संशोधित आदेश जारी करते हुए भोपाल जिले की राजस्व सीमा में कोरोना कर्फ्यू को एक जून तक बढ़ा दिया है। शेष सभी प्रतिबंधात्मक आदेश पूर्ववत रहेंगे। उन्‍होंने कहा है कि अत्यंत विशेष परिस्थितियों में सक्षम अधिकारी के संतुष्ट होने पर आवेदक को किसी भी लागू शर्तों से छूट दी जा सकेगी। यह आदेश तत्काल  प्रभावशील होगा। इस आदेश का उल्लघंन करने वाले व्यक्ति के विरूद्व भारतीय दण्ड संहिता की धारा 188 के अंतर्गत कार्यवाही की जायेगी।   उल्‍लेखनीय है कि एक दिन पूर्व ही सीएम शिवराज ने प्रदेश भर के जिलों की समीक्षा के दौरान भोपाल संभाग की कोरोना की समीक्षा में सख्ती के साथ कोरोना कर्फ्यू बढ़ाने के निर्देश दिए थे। जिसमें उनका साफ कहना था कि अभी राजधानी भोपाल में संक्रमण दर भले ही कम हो गई हो, लेकिन यहां ढील देना ठीक नहीं होगा।  यदि ऐसा किया गया तो यह ढील फिर से संक्रमण को बढ़ा सकती है।इसलिए इस पर सभी जिलाधीशों को गहराई से विचार करना होगा।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


bhopal,Public curfew ,remain in Bhopal ,till June 1 morning

भोपाल। कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट, भोपाल अविनाश लवानिया ने भोपाल में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के दृष्टिगत जनता कर्फ्यू को एक जून  को प्रातः छह बजे तक जारी रखने के आदेश दिये हैं।    इस संबंध में जिला दंडाधिकारी अविनाश लवानिया ने शनिवार को धारा 144 के अंतर्गत संशोधित आदेश जारी करते हुए भोपाल जिले की राजस्व सीमा में कोरोना कर्फ्यू को एक जून तक बढ़ा दिया है। शेष सभी प्रतिबंधात्मक आदेश पूर्ववत रहेंगे। उन्‍होंने कहा है कि अत्यंत विशेष परिस्थितियों में सक्षम अधिकारी के संतुष्ट होने पर आवेदक को किसी भी लागू शर्तों से छूट दी जा सकेगी। यह आदेश तत्काल  प्रभावशील होगा। इस आदेश का उल्लघंन करने वाले व्यक्ति के विरूद्व भारतीय दण्ड संहिता की धारा 188 के अंतर्गत कार्यवाही की जायेगी।   उल्‍लेखनीय है कि एक दिन पूर्व ही सीएम शिवराज ने प्रदेश भर के जिलों की समीक्षा के दौरान भोपाल संभाग की कोरोना की समीक्षा में सख्ती के साथ कोरोना कर्फ्यू बढ़ाने के निर्देश दिए थे। जिसमें उनका साफ कहना था कि अभी राजधानी भोपाल में संक्रमण दर भले ही कम हो गई हो, लेकिन यहां ढील देना ठीक नहीं होगा।  यदि ऐसा किया गया तो यह ढील फिर से संक्रमण को बढ़ा सकती है।इसलिए इस पर सभी जिलाधीशों को गहराई से विचार करना होगा।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


bhopal,Public curfew ,remain in Bhopal ,till June 1 morning

भोपाल। कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट, भोपाल अविनाश लवानिया ने भोपाल में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के दृष्टिगत जनता कर्फ्यू को एक जून  को प्रातः छह बजे तक जारी रखने के आदेश दिये हैं।    इस संबंध में जिला दंडाधिकारी अविनाश लवानिया ने शनिवार को धारा 144 के अंतर्गत संशोधित आदेश जारी करते हुए भोपाल जिले की राजस्व सीमा में कोरोना कर्फ्यू को एक जून तक बढ़ा दिया है। शेष सभी प्रतिबंधात्मक आदेश पूर्ववत रहेंगे। उन्‍होंने कहा है कि अत्यंत विशेष परिस्थितियों में सक्षम अधिकारी के संतुष्ट होने पर आवेदक को किसी भी लागू शर्तों से छूट दी जा सकेगी। यह आदेश तत्काल  प्रभावशील होगा। इस आदेश का उल्लघंन करने वाले व्यक्ति के विरूद्व भारतीय दण्ड संहिता की धारा 188 के अंतर्गत कार्यवाही की जायेगी।   उल्‍लेखनीय है कि एक दिन पूर्व ही सीएम शिवराज ने प्रदेश भर के जिलों की समीक्षा के दौरान भोपाल संभाग की कोरोना की समीक्षा में सख्ती के साथ कोरोना कर्फ्यू बढ़ाने के निर्देश दिए थे। जिसमें उनका साफ कहना था कि अभी राजधानी भोपाल में संक्रमण दर भले ही कम हो गई हो, लेकिन यहां ढील देना ठीक नहीं होगा।  यदि ऐसा किया गया तो यह ढील फिर से संक्रमण को बढ़ा सकती है।इसलिए इस पर सभी जिलाधीशों को गहराई से विचार करना होगा।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


bhopal,Public curfew ,remain in Bhopal ,till June 1 morning

भोपाल। कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट, भोपाल अविनाश लवानिया ने भोपाल में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के दृष्टिगत जनता कर्फ्यू को एक जून  को प्रातः छह बजे तक जारी रखने के आदेश दिये हैं।    इस संबंध में जिला दंडाधिकारी अविनाश लवानिया ने शनिवार को धारा 144 के अंतर्गत संशोधित आदेश जारी करते हुए भोपाल जिले की राजस्व सीमा में कोरोना कर्फ्यू को एक जून तक बढ़ा दिया है। शेष सभी प्रतिबंधात्मक आदेश पूर्ववत रहेंगे। उन्‍होंने कहा है कि अत्यंत विशेष परिस्थितियों में सक्षम अधिकारी के संतुष्ट होने पर आवेदक को किसी भी लागू शर्तों से छूट दी जा सकेगी। यह आदेश तत्काल  प्रभावशील होगा। इस आदेश का उल्लघंन करने वाले व्यक्ति के विरूद्व भारतीय दण्ड संहिता की धारा 188 के अंतर्गत कार्यवाही की जायेगी।   उल्‍लेखनीय है कि एक दिन पूर्व ही सीएम शिवराज ने प्रदेश भर के जिलों की समीक्षा के दौरान भोपाल संभाग की कोरोना की समीक्षा में सख्ती के साथ कोरोना कर्फ्यू बढ़ाने के निर्देश दिए थे। जिसमें उनका साफ कहना था कि अभी राजधानी भोपाल में संक्रमण दर भले ही कम हो गई हो, लेकिन यहां ढील देना ठीक नहीं होगा।  यदि ऐसा किया गया तो यह ढील फिर से संक्रमण को बढ़ा सकती है।इसलिए इस पर सभी जिलाधीशों को गहराई से विचार करना होगा।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


bhopal,Public curfew ,remain in Bhopal ,till June 1 morning

भोपाल। कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट, भोपाल अविनाश लवानिया ने भोपाल में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के दृष्टिगत जनता कर्फ्यू को एक जून  को प्रातः छह बजे तक जारी रखने के आदेश दिये हैं।    इस संबंध में जिला दंडाधिकारी अविनाश लवानिया ने शनिवार को धारा 144 के अंतर्गत संशोधित आदेश जारी करते हुए भोपाल जिले की राजस्व सीमा में कोरोना कर्फ्यू को एक जून तक बढ़ा दिया है। शेष सभी प्रतिबंधात्मक आदेश पूर्ववत रहेंगे। उन्‍होंने कहा है कि अत्यंत विशेष परिस्थितियों में सक्षम अधिकारी के संतुष्ट होने पर आवेदक को किसी भी लागू शर्तों से छूट दी जा सकेगी। यह आदेश तत्काल  प्रभावशील होगा। इस आदेश का उल्लघंन करने वाले व्यक्ति के विरूद्व भारतीय दण्ड संहिता की धारा 188 के अंतर्गत कार्यवाही की जायेगी।   उल्‍लेखनीय है कि एक दिन पूर्व ही सीएम शिवराज ने प्रदेश भर के जिलों की समीक्षा के दौरान भोपाल संभाग की कोरोना की समीक्षा में सख्ती के साथ कोरोना कर्फ्यू बढ़ाने के निर्देश दिए थे। जिसमें उनका साफ कहना था कि अभी राजधानी भोपाल में संक्रमण दर भले ही कम हो गई हो, लेकिन यहां ढील देना ठीक नहीं होगा।  यदि ऐसा किया गया तो यह ढील फिर से संक्रमण को बढ़ा सकती है।इसलिए इस पर सभी जिलाधीशों को गहराई से विचार करना होगा।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


bhopal,Public curfew ,remain in Bhopal ,till June 1 morning

भोपाल। कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट, भोपाल अविनाश लवानिया ने भोपाल में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के दृष्टिगत जनता कर्फ्यू को एक जून  को प्रातः छह बजे तक जारी रखने के आदेश दिये हैं।    इस संबंध में जिला दंडाधिकारी अविनाश लवानिया ने शनिवार को धारा 144 के अंतर्गत संशोधित आदेश जारी करते हुए भोपाल जिले की राजस्व सीमा में कोरोना कर्फ्यू को एक जून तक बढ़ा दिया है। शेष सभी प्रतिबंधात्मक आदेश पूर्ववत रहेंगे। उन्‍होंने कहा है कि अत्यंत विशेष परिस्थितियों में सक्षम अधिकारी के संतुष्ट होने पर आवेदक को किसी भी लागू शर्तों से छूट दी जा सकेगी। यह आदेश तत्काल  प्रभावशील होगा। इस आदेश का उल्लघंन करने वाले व्यक्ति के विरूद्व भारतीय दण्ड संहिता की धारा 188 के अंतर्गत कार्यवाही की जायेगी।   उल्‍लेखनीय है कि एक दिन पूर्व ही सीएम शिवराज ने प्रदेश भर के जिलों की समीक्षा के दौरान भोपाल संभाग की कोरोना की समीक्षा में सख्ती के साथ कोरोना कर्फ्यू बढ़ाने के निर्देश दिए थे। जिसमें उनका साफ कहना था कि अभी राजधानी भोपाल में संक्रमण दर भले ही कम हो गई हो, लेकिन यहां ढील देना ठीक नहीं होगा।  यदि ऐसा किया गया तो यह ढील फिर से संक्रमण को बढ़ा सकती है।इसलिए इस पर सभी जिलाधीशों को गहराई से विचार करना होगा।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


bhopal,Public curfew ,remain in Bhopal ,till June 1 morning

भोपाल। कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट, भोपाल अविनाश लवानिया ने भोपाल में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के दृष्टिगत जनता कर्फ्यू को एक जून  को प्रातः छह बजे तक जारी रखने के आदेश दिये हैं।    इस संबंध में जिला दंडाधिकारी अविनाश लवानिया ने शनिवार को धारा 144 के अंतर्गत संशोधित आदेश जारी करते हुए भोपाल जिले की राजस्व सीमा में कोरोना कर्फ्यू को एक जून तक बढ़ा दिया है। शेष सभी प्रतिबंधात्मक आदेश पूर्ववत रहेंगे। उन्‍होंने कहा है कि अत्यंत विशेष परिस्थितियों में सक्षम अधिकारी के संतुष्ट होने पर आवेदक को किसी भी लागू शर्तों से छूट दी जा सकेगी। यह आदेश तत्काल  प्रभावशील होगा। इस आदेश का उल्लघंन करने वाले व्यक्ति के विरूद्व भारतीय दण्ड संहिता की धारा 188 के अंतर्गत कार्यवाही की जायेगी।   उल्‍लेखनीय है कि एक दिन पूर्व ही सीएम शिवराज ने प्रदेश भर के जिलों की समीक्षा के दौरान भोपाल संभाग की कोरोना की समीक्षा में सख्ती के साथ कोरोना कर्फ्यू बढ़ाने के निर्देश दिए थे। जिसमें उनका साफ कहना था कि अभी राजधानी भोपाल में संक्रमण दर भले ही कम हो गई हो, लेकिन यहां ढील देना ठीक नहीं होगा।  यदि ऐसा किया गया तो यह ढील फिर से संक्रमण को बढ़ा सकती है।इसलिए इस पर सभी जिलाधीशों को गहराई से विचार करना होगा।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


bhopal,Public curfew ,remain in Bhopal ,till June 1 morning

भोपाल। कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट, भोपाल अविनाश लवानिया ने भोपाल में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के दृष्टिगत जनता कर्फ्यू को एक जून  को प्रातः छह बजे तक जारी रखने के आदेश दिये हैं।    इस संबंध में जिला दंडाधिकारी अविनाश लवानिया ने शनिवार को धारा 144 के अंतर्गत संशोधित आदेश जारी करते हुए भोपाल जिले की राजस्व सीमा में कोरोना कर्फ्यू को एक जून तक बढ़ा दिया है। शेष सभी प्रतिबंधात्मक आदेश पूर्ववत रहेंगे। उन्‍होंने कहा है कि अत्यंत विशेष परिस्थितियों में सक्षम अधिकारी के संतुष्ट होने पर आवेदक को किसी भी लागू शर्तों से छूट दी जा सकेगी। यह आदेश तत्काल  प्रभावशील होगा। इस आदेश का उल्लघंन करने वाले व्यक्ति के विरूद्व भारतीय दण्ड संहिता की धारा 188 के अंतर्गत कार्यवाही की जायेगी।   उल्‍लेखनीय है कि एक दिन पूर्व ही सीएम शिवराज ने प्रदेश भर के जिलों की समीक्षा के दौरान भोपाल संभाग की कोरोना की समीक्षा में सख्ती के साथ कोरोना कर्फ्यू बढ़ाने के निर्देश दिए थे। जिसमें उनका साफ कहना था कि अभी राजधानी भोपाल में संक्रमण दर भले ही कम हो गई हो, लेकिन यहां ढील देना ठीक नहीं होगा।  यदि ऐसा किया गया तो यह ढील फिर से संक्रमण को बढ़ा सकती है।इसलिए इस पर सभी जिलाधीशों को गहराई से विचार करना होगा।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


bhopal,Public curfew ,remain in Bhopal ,till June 1 morning

भोपाल। कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट, भोपाल अविनाश लवानिया ने भोपाल में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के दृष्टिगत जनता कर्फ्यू को एक जून  को प्रातः छह बजे तक जारी रखने के आदेश दिये हैं।    इस संबंध में जिला दंडाधिकारी अविनाश लवानिया ने शनिवार को धारा 144 के अंतर्गत संशोधित आदेश जारी करते हुए भोपाल जिले की राजस्व सीमा में कोरोना कर्फ्यू को एक जून तक बढ़ा दिया है। शेष सभी प्रतिबंधात्मक आदेश पूर्ववत रहेंगे। उन्‍होंने कहा है कि अत्यंत विशेष परिस्थितियों में सक्षम अधिकारी के संतुष्ट होने पर आवेदक को किसी भी लागू शर्तों से छूट दी जा सकेगी। यह आदेश तत्काल  प्रभावशील होगा। इस आदेश का उल्लघंन करने वाले व्यक्ति के विरूद्व भारतीय दण्ड संहिता की धारा 188 के अंतर्गत कार्यवाही की जायेगी।   उल्‍लेखनीय है कि एक दिन पूर्व ही सीएम शिवराज ने प्रदेश भर के जिलों की समीक्षा के दौरान भोपाल संभाग की कोरोना की समीक्षा में सख्ती के साथ कोरोना कर्फ्यू बढ़ाने के निर्देश दिए थे। जिसमें उनका साफ कहना था कि अभी राजधानी भोपाल में संक्रमण दर भले ही कम हो गई हो, लेकिन यहां ढील देना ठीक नहीं होगा।  यदि ऐसा किया गया तो यह ढील फिर से संक्रमण को बढ़ा सकती है।इसलिए इस पर सभी जिलाधीशों को गहराई से विचार करना होगा।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


bhopal,Public curfew ,remain in Bhopal ,till June 1 morning

भोपाल। कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट, भोपाल अविनाश लवानिया ने भोपाल में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के दृष्टिगत जनता कर्फ्यू को एक जून  को प्रातः छह बजे तक जारी रखने के आदेश दिये हैं।    इस संबंध में जिला दंडाधिकारी अविनाश लवानिया ने शनिवार को धारा 144 के अंतर्गत संशोधित आदेश जारी करते हुए भोपाल जिले की राजस्व सीमा में कोरोना कर्फ्यू को एक जून तक बढ़ा दिया है। शेष सभी प्रतिबंधात्मक आदेश पूर्ववत रहेंगे। उन्‍होंने कहा है कि अत्यंत विशेष परिस्थितियों में सक्षम अधिकारी के संतुष्ट होने पर आवेदक को किसी भी लागू शर्तों से छूट दी जा सकेगी। यह आदेश तत्काल  प्रभावशील होगा। इस आदेश का उल्लघंन करने वाले व्यक्ति के विरूद्व भारतीय दण्ड संहिता की धारा 188 के अंतर्गत कार्यवाही की जायेगी।   उल्‍लेखनीय है कि एक दिन पूर्व ही सीएम शिवराज ने प्रदेश भर के जिलों की समीक्षा के दौरान भोपाल संभाग की कोरोना की समीक्षा में सख्ती के साथ कोरोना कर्फ्यू बढ़ाने के निर्देश दिए थे। जिसमें उनका साफ कहना था कि अभी राजधानी भोपाल में संक्रमण दर भले ही कम हो गई हो, लेकिन यहां ढील देना ठीक नहीं होगा।  यदि ऐसा किया गया तो यह ढील फिर से संक्रमण को बढ़ा सकती है।इसलिए इस पर सभी जिलाधीशों को गहराई से विचार करना होगा।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


bhopal,Public curfew ,remain in Bhopal ,till June 1 morning

भोपाल। कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट, भोपाल अविनाश लवानिया ने भोपाल में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के दृष्टिगत जनता कर्फ्यू को एक जून  को प्रातः छह बजे तक जारी रखने के आदेश दिये हैं।    इस संबंध में जिला दंडाधिकारी अविनाश लवानिया ने शनिवार को धारा 144 के अंतर्गत संशोधित आदेश जारी करते हुए भोपाल जिले की राजस्व सीमा में कोरोना कर्फ्यू को एक जून तक बढ़ा दिया है। शेष सभी प्रतिबंधात्मक आदेश पूर्ववत रहेंगे। उन्‍होंने कहा है कि अत्यंत विशेष परिस्थितियों में सक्षम अधिकारी के संतुष्ट होने पर आवेदक को किसी भी लागू शर्तों से छूट दी जा सकेगी। यह आदेश तत्काल  प्रभावशील होगा। इस आदेश का उल्लघंन करने वाले व्यक्ति के विरूद्व भारतीय दण्ड संहिता की धारा 188 के अंतर्गत कार्यवाही की जायेगी।   उल्‍लेखनीय है कि एक दिन पूर्व ही सीएम शिवराज ने प्रदेश भर के जिलों की समीक्षा के दौरान भोपाल संभाग की कोरोना की समीक्षा में सख्ती के साथ कोरोना कर्फ्यू बढ़ाने के निर्देश दिए थे। जिसमें उनका साफ कहना था कि अभी राजधानी भोपाल में संक्रमण दर भले ही कम हो गई हो, लेकिन यहां ढील देना ठीक नहीं होगा।  यदि ऐसा किया गया तो यह ढील फिर से संक्रमण को बढ़ा सकती है।इसलिए इस पर सभी जिलाधीशों को गहराई से विचार करना होगा।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


bhopal,Public curfew ,remain in Bhopal ,till June 1 morning

भोपाल। कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट, भोपाल अविनाश लवानिया ने भोपाल में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के दृष्टिगत जनता कर्फ्यू को एक जून  को प्रातः छह बजे तक जारी रखने के आदेश दिये हैं।    इस संबंध में जिला दंडाधिकारी अविनाश लवानिया ने शनिवार को धारा 144 के अंतर्गत संशोधित आदेश जारी करते हुए भोपाल जिले की राजस्व सीमा में कोरोना कर्फ्यू को एक जून तक बढ़ा दिया है। शेष सभी प्रतिबंधात्मक आदेश पूर्ववत रहेंगे। उन्‍होंने कहा है कि अत्यंत विशेष परिस्थितियों में सक्षम अधिकारी के संतुष्ट होने पर आवेदक को किसी भी लागू शर्तों से छूट दी जा सकेगी। यह आदेश तत्काल  प्रभावशील होगा। इस आदेश का उल्लघंन करने वाले व्यक्ति के विरूद्व भारतीय दण्ड संहिता की धारा 188 के अंतर्गत कार्यवाही की जायेगी।   उल्‍लेखनीय है कि एक दिन पूर्व ही सीएम शिवराज ने प्रदेश भर के जिलों की समीक्षा के दौरान भोपाल संभाग की कोरोना की समीक्षा में सख्ती के साथ कोरोना कर्फ्यू बढ़ाने के निर्देश दिए थे। जिसमें उनका साफ कहना था कि अभी राजधानी भोपाल में संक्रमण दर भले ही कम हो गई हो, लेकिन यहां ढील देना ठीक नहीं होगा।  यदि ऐसा किया गया तो यह ढील फिर से संक्रमण को बढ़ा सकती है।इसलिए इस पर सभी जिलाधीशों को गहराई से विचार करना होगा।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


bhopal,Public curfew ,remain in Bhopal ,till June 1 morning

भोपाल। कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट, भोपाल अविनाश लवानिया ने भोपाल में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के दृष्टिगत जनता कर्फ्यू को एक जून  को प्रातः छह बजे तक जारी रखने के आदेश दिये हैं।    इस संबंध में जिला दंडाधिकारी अविनाश लवानिया ने शनिवार को धारा 144 के अंतर्गत संशोधित आदेश जारी करते हुए भोपाल जिले की राजस्व सीमा में कोरोना कर्फ्यू को एक जून तक बढ़ा दिया है। शेष सभी प्रतिबंधात्मक आदेश पूर्ववत रहेंगे। उन्‍होंने कहा है कि अत्यंत विशेष परिस्थितियों में सक्षम अधिकारी के संतुष्ट होने पर आवेदक को किसी भी लागू शर्तों से छूट दी जा सकेगी। यह आदेश तत्काल  प्रभावशील होगा। इस आदेश का उल्लघंन करने वाले व्यक्ति के विरूद्व भारतीय दण्ड संहिता की धारा 188 के अंतर्गत कार्यवाही की जायेगी।   उल्‍लेखनीय है कि एक दिन पूर्व ही सीएम शिवराज ने प्रदेश भर के जिलों की समीक्षा के दौरान भोपाल संभाग की कोरोना की समीक्षा में सख्ती के साथ कोरोना कर्फ्यू बढ़ाने के निर्देश दिए थे। जिसमें उनका साफ कहना था कि अभी राजधानी भोपाल में संक्रमण दर भले ही कम हो गई हो, लेकिन यहां ढील देना ठीक नहीं होगा।  यदि ऐसा किया गया तो यह ढील फिर से संक्रमण को बढ़ा सकती है।इसलिए इस पर सभी जिलाधीशों को गहराई से विचार करना होगा।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


bhopal,Public curfew ,remain in Bhopal ,till June 1 morning

भोपाल। कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट, भोपाल अविनाश लवानिया ने भोपाल में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के दृष्टिगत जनता कर्फ्यू को एक जून  को प्रातः छह बजे तक जारी रखने के आदेश दिये हैं।    इस संबंध में जिला दंडाधिकारी अविनाश लवानिया ने शनिवार को धारा 144 के अंतर्गत संशोधित आदेश जारी करते हुए भोपाल जिले की राजस्व सीमा में कोरोना कर्फ्यू को एक जून तक बढ़ा दिया है। शेष सभी प्रतिबंधात्मक आदेश पूर्ववत रहेंगे। उन्‍होंने कहा है कि अत्यंत विशेष परिस्थितियों में सक्षम अधिकारी के संतुष्ट होने पर आवेदक को किसी भी लागू शर्तों से छूट दी जा सकेगी। यह आदेश तत्काल  प्रभावशील होगा। इस आदेश का उल्लघंन करने वाले व्यक्ति के विरूद्व भारतीय दण्ड संहिता की धारा 188 के अंतर्गत कार्यवाही की जायेगी।   उल्‍लेखनीय है कि एक दिन पूर्व ही सीएम शिवराज ने प्रदेश भर के जिलों की समीक्षा के दौरान भोपाल संभाग की कोरोना की समीक्षा में सख्ती के साथ कोरोना कर्फ्यू बढ़ाने के निर्देश दिए थे। जिसमें उनका साफ कहना था कि अभी राजधानी भोपाल में संक्रमण दर भले ही कम हो गई हो, लेकिन यहां ढील देना ठीक नहीं होगा।  यदि ऐसा किया गया तो यह ढील फिर से संक्रमण को बढ़ा सकती है।इसलिए इस पर सभी जिलाधीशों को गहराई से विचार करना होगा।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


bhopal,Public curfew ,remain in Bhopal ,till June 1 morning

भोपाल। कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट, भोपाल अविनाश लवानिया ने भोपाल में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के दृष्टिगत जनता कर्फ्यू को एक जून  को प्रातः छह बजे तक जारी रखने के आदेश दिये हैं।    इस संबंध में जिला दंडाधिकारी अविनाश लवानिया ने शनिवार को धारा 144 के अंतर्गत संशोधित आदेश जारी करते हुए भोपाल जिले की राजस्व सीमा में कोरोना कर्फ्यू को एक जून तक बढ़ा दिया है। शेष सभी प्रतिबंधात्मक आदेश पूर्ववत रहेंगे। उन्‍होंने कहा है कि अत्यंत विशेष परिस्थितियों में सक्षम अधिकारी के संतुष्ट होने पर आवेदक को किसी भी लागू शर्तों से छूट दी जा सकेगी। यह आदेश तत्काल  प्रभावशील होगा। इस आदेश का उल्लघंन करने वाले व्यक्ति के विरूद्व भारतीय दण्ड संहिता की धारा 188 के अंतर्गत कार्यवाही की जायेगी।   उल्‍लेखनीय है कि एक दिन पूर्व ही सीएम शिवराज ने प्रदेश भर के जिलों की समीक्षा के दौरान भोपाल संभाग की कोरोना की समीक्षा में सख्ती के साथ कोरोना कर्फ्यू बढ़ाने के निर्देश दिए थे। जिसमें उनका साफ कहना था कि अभी राजधानी भोपाल में संक्रमण दर भले ही कम हो गई हो, लेकिन यहां ढील देना ठीक नहीं होगा।  यदि ऐसा किया गया तो यह ढील फिर से संक्रमण को बढ़ा सकती है।इसलिए इस पर सभी जिलाधीशों को गहराई से विचार करना होगा।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


bhopal,Public curfew ,remain in Bhopal ,till June 1 morning

भोपाल। कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट, भोपाल अविनाश लवानिया ने भोपाल में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के दृष्टिगत जनता कर्फ्यू को एक जून  को प्रातः छह बजे तक जारी रखने के आदेश दिये हैं।    इस संबंध में जिला दंडाधिकारी अविनाश लवानिया ने शनिवार को धारा 144 के अंतर्गत संशोधित आदेश जारी करते हुए भोपाल जिले की राजस्व सीमा में कोरोना कर्फ्यू को एक जून तक बढ़ा दिया है। शेष सभी प्रतिबंधात्मक आदेश पूर्ववत रहेंगे। उन्‍होंने कहा है कि अत्यंत विशेष परिस्थितियों में सक्षम अधिकारी के संतुष्ट होने पर आवेदक को किसी भी लागू शर्तों से छूट दी जा सकेगी। यह आदेश तत्काल  प्रभावशील होगा। इस आदेश का उल्लघंन करने वाले व्यक्ति के विरूद्व भारतीय दण्ड संहिता की धारा 188 के अंतर्गत कार्यवाही की जायेगी।   उल्‍लेखनीय है कि एक दिन पूर्व ही सीएम शिवराज ने प्रदेश भर के जिलों की समीक्षा के दौरान भोपाल संभाग की कोरोना की समीक्षा में सख्ती के साथ कोरोना कर्फ्यू बढ़ाने के निर्देश दिए थे। जिसमें उनका साफ कहना था कि अभी राजधानी भोपाल में संक्रमण दर भले ही कम हो गई हो, लेकिन यहां ढील देना ठीक नहीं होगा।  यदि ऐसा किया गया तो यह ढील फिर से संक्रमण को बढ़ा सकती है।इसलिए इस पर सभी जिलाधीशों को गहराई से विचार करना होगा।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


bhopal,Public curfew ,remain in Bhopal ,till June 1 morning

भोपाल। कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट, भोपाल अविनाश लवानिया ने भोपाल में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के दृष्टिगत जनता कर्फ्यू को एक जून  को प्रातः छह बजे तक जारी रखने के आदेश दिये हैं।    इस संबंध में जिला दंडाधिकारी अविनाश लवानिया ने शनिवार को धारा 144 के अंतर्गत संशोधित आदेश जारी करते हुए भोपाल जिले की राजस्व सीमा में कोरोना कर्फ्यू को एक जून तक बढ़ा दिया है। शेष सभी प्रतिबंधात्मक आदेश पूर्ववत रहेंगे। उन्‍होंने कहा है कि अत्यंत विशेष परिस्थितियों में सक्षम अधिकारी के संतुष्ट होने पर आवेदक को किसी भी लागू शर्तों से छूट दी जा सकेगी। यह आदेश तत्काल  प्रभावशील होगा। इस आदेश का उल्लघंन करने वाले व्यक्ति के विरूद्व भारतीय दण्ड संहिता की धारा 188 के अंतर्गत कार्यवाही की जायेगी।   उल्‍लेखनीय है कि एक दिन पूर्व ही सीएम शिवराज ने प्रदेश भर के जिलों की समीक्षा के दौरान भोपाल संभाग की कोरोना की समीक्षा में सख्ती के साथ कोरोना कर्फ्यू बढ़ाने के निर्देश दिए थे। जिसमें उनका साफ कहना था कि अभी राजधानी भोपाल में संक्रमण दर भले ही कम हो गई हो, लेकिन यहां ढील देना ठीक नहीं होगा।  यदि ऐसा किया गया तो यह ढील फिर से संक्रमण को बढ़ा सकती है।इसलिए इस पर सभी जिलाधीशों को गहराई से विचार करना होगा।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


bhopal,Public curfew ,remain in Bhopal ,till June 1 morning

भोपाल। कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट, भोपाल अविनाश लवानिया ने भोपाल में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के दृष्टिगत जनता कर्फ्यू को एक जून  को प्रातः छह बजे तक जारी रखने के आदेश दिये हैं।    इस संबंध में जिला दंडाधिकारी अविनाश लवानिया ने शनिवार को धारा 144 के अंतर्गत संशोधित आदेश जारी करते हुए भोपाल जिले की राजस्व सीमा में कोरोना कर्फ्यू को एक जून तक बढ़ा दिया है। शेष सभी प्रतिबंधात्मक आदेश पूर्ववत रहेंगे। उन्‍होंने कहा है कि अत्यंत विशेष परिस्थितियों में सक्षम अधिकारी के संतुष्ट होने पर आवेदक को किसी भी लागू शर्तों से छूट दी जा सकेगी। यह आदेश तत्काल  प्रभावशील होगा। इस आदेश का उल्लघंन करने वाले व्यक्ति के विरूद्व भारतीय दण्ड संहिता की धारा 188 के अंतर्गत कार्यवाही की जायेगी।   उल्‍लेखनीय है कि एक दिन पूर्व ही सीएम शिवराज ने प्रदेश भर के जिलों की समीक्षा के दौरान भोपाल संभाग की कोरोना की समीक्षा में सख्ती के साथ कोरोना कर्फ्यू बढ़ाने के निर्देश दिए थे। जिसमें उनका साफ कहना था कि अभी राजधानी भोपाल में संक्रमण दर भले ही कम हो गई हो, लेकिन यहां ढील देना ठीक नहीं होगा।  यदि ऐसा किया गया तो यह ढील फिर से संक्रमण को बढ़ा सकती है।इसलिए इस पर सभी जिलाधीशों को गहराई से विचार करना होगा।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


bhopal,Public curfew ,remain in Bhopal ,till June 1 morning

भोपाल। कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट, भोपाल अविनाश लवानिया ने भोपाल में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के दृष्टिगत जनता कर्फ्यू को एक जून  को प्रातः छह बजे तक जारी रखने के आदेश दिये हैं।    इस संबंध में जिला दंडाधिकारी अविनाश लवानिया ने शनिवार को धारा 144 के अंतर्गत संशोधित आदेश जारी करते हुए भोपाल जिले की राजस्व सीमा में कोरोना कर्फ्यू को एक जून तक बढ़ा दिया है। शेष सभी प्रतिबंधात्मक आदेश पूर्ववत रहेंगे। उन्‍होंने कहा है कि अत्यंत विशेष परिस्थितियों में सक्षम अधिकारी के संतुष्ट होने पर आवेदक को किसी भी लागू शर्तों से छूट दी जा सकेगी। यह आदेश तत्काल  प्रभावशील होगा। इस आदेश का उल्लघंन करने वाले व्यक्ति के विरूद्व भारतीय दण्ड संहिता की धारा 188 के अंतर्गत कार्यवाही की जायेगी।   उल्‍लेखनीय है कि एक दिन पूर्व ही सीएम शिवराज ने प्रदेश भर के जिलों की समीक्षा के दौरान भोपाल संभाग की कोरोना की समीक्षा में सख्ती के साथ कोरोना कर्फ्यू बढ़ाने के निर्देश दिए थे। जिसमें उनका साफ कहना था कि अभी राजधानी भोपाल में संक्रमण दर भले ही कम हो गई हो, लेकिन यहां ढील देना ठीक नहीं होगा।  यदि ऐसा किया गया तो यह ढील फिर से संक्रमण को बढ़ा सकती है।इसलिए इस पर सभी जिलाधीशों को गहराई से विचार करना होगा।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


bhopal,Public curfew ,remain in Bhopal ,till June 1 morning

भोपाल। कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट, भोपाल अविनाश लवानिया ने भोपाल में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के दृष्टिगत जनता कर्फ्यू को एक जून  को प्रातः छह बजे तक जारी रखने के आदेश दिये हैं।    इस संबंध में जिला दंडाधिकारी अविनाश लवानिया ने शनिवार को धारा 144 के अंतर्गत संशोधित आदेश जारी करते हुए भोपाल जिले की राजस्व सीमा में कोरोना कर्फ्यू को एक जून तक बढ़ा दिया है। शेष सभी प्रतिबंधात्मक आदेश पूर्ववत रहेंगे। उन्‍होंने कहा है कि अत्यंत विशेष परिस्थितियों में सक्षम अधिकारी के संतुष्ट होने पर आवेदक को किसी भी लागू शर्तों से छूट दी जा सकेगी। यह आदेश तत्काल  प्रभावशील होगा। इस आदेश का उल्लघंन करने वाले व्यक्ति के विरूद्व भारतीय दण्ड संहिता की धारा 188 के अंतर्गत कार्यवाही की जायेगी।   उल्‍लेखनीय है कि एक दिन पूर्व ही सीएम शिवराज ने प्रदेश भर के जिलों की समीक्षा के दौरान भोपाल संभाग की कोरोना की समीक्षा में सख्ती के साथ कोरोना कर्फ्यू बढ़ाने के निर्देश दिए थे। जिसमें उनका साफ कहना था कि अभी राजधानी भोपाल में संक्रमण दर भले ही कम हो गई हो, लेकिन यहां ढील देना ठीक नहीं होगा।  यदि ऐसा किया गया तो यह ढील फिर से संक्रमण को बढ़ा सकती है।इसलिए इस पर सभी जिलाधीशों को गहराई से विचार करना होगा।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


bhopal,Public curfew ,remain in Bhopal ,till June 1 morning

भोपाल। कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट, भोपाल अविनाश लवानिया ने भोपाल में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के दृष्टिगत जनता कर्फ्यू को एक जून  को प्रातः छह बजे तक जारी रखने के आदेश दिये हैं।    इस संबंध में जिला दंडाधिकारी अविनाश लवानिया ने शनिवार को धारा 144 के अंतर्गत संशोधित आदेश जारी करते हुए भोपाल जिले की राजस्व सीमा में कोरोना कर्फ्यू को एक जून तक बढ़ा दिया है। शेष सभी प्रतिबंधात्मक आदेश पूर्ववत रहेंगे। उन्‍होंने कहा है कि अत्यंत विशेष परिस्थितियों में सक्षम अधिकारी के संतुष्ट होने पर आवेदक को किसी भी लागू शर्तों से छूट दी जा सकेगी। यह आदेश तत्काल  प्रभावशील होगा। इस आदेश का उल्लघंन करने वाले व्यक्ति के विरूद्व भारतीय दण्ड संहिता की धारा 188 के अंतर्गत कार्यवाही की जायेगी।   उल्‍लेखनीय है कि एक दिन पूर्व ही सीएम शिवराज ने प्रदेश भर के जिलों की समीक्षा के दौरान भोपाल संभाग की कोरोना की समीक्षा में सख्ती के साथ कोरोना कर्फ्यू बढ़ाने के निर्देश दिए थे। जिसमें उनका साफ कहना था कि अभी राजधानी भोपाल में संक्रमण दर भले ही कम हो गई हो, लेकिन यहां ढील देना ठीक नहीं होगा।  यदि ऐसा किया गया तो यह ढील फिर से संक्रमण को बढ़ा सकती है।इसलिए इस पर सभी जिलाधीशों को गहराई से विचार करना होगा।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


bhopal,Public curfew ,remain in Bhopal ,till June 1 morning

भोपाल। कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट, भोपाल अविनाश लवानिया ने भोपाल में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के दृष्टिगत जनता कर्फ्यू को एक जून  को प्रातः छह बजे तक जारी रखने के आदेश दिये हैं।    इस संबंध में जिला दंडाधिकारी अविनाश लवानिया ने शनिवार को धारा 144 के अंतर्गत संशोधित आदेश जारी करते हुए भोपाल जिले की राजस्व सीमा में कोरोना कर्फ्यू को एक जून तक बढ़ा दिया है। शेष सभी प्रतिबंधात्मक आदेश पूर्ववत रहेंगे। उन्‍होंने कहा है कि अत्यंत विशेष परिस्थितियों में सक्षम अधिकारी के संतुष्ट होने पर आवेदक को किसी भी लागू शर्तों से छूट दी जा सकेगी। यह आदेश तत्काल  प्रभावशील होगा। इस आदेश का उल्लघंन करने वाले व्यक्ति के विरूद्व भारतीय दण्ड संहिता की धारा 188 के अंतर्गत कार्यवाही की जायेगी।   उल्‍लेखनीय है कि एक दिन पूर्व ही सीएम शिवराज ने प्रदेश भर के जिलों की समीक्षा के दौरान भोपाल संभाग की कोरोना की समीक्षा में सख्ती के साथ कोरोना कर्फ्यू बढ़ाने के निर्देश दिए थे। जिसमें उनका साफ कहना था कि अभी राजधानी भोपाल में संक्रमण दर भले ही कम हो गई हो, लेकिन यहां ढील देना ठीक नहीं होगा।  यदि ऐसा किया गया तो यह ढील फिर से संक्रमण को बढ़ा सकती है।इसलिए इस पर सभी जिलाधीशों को गहराई से विचार करना होगा।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


bhopal,Public curfew ,remain in Bhopal ,till June 1 morning

भोपाल। कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट, भोपाल अविनाश लवानिया ने भोपाल में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के दृष्टिगत जनता कर्फ्यू को एक जून  को प्रातः छह बजे तक जारी रखने के आदेश दिये हैं।    इस संबंध में जिला दंडाधिकारी अविनाश लवानिया ने शनिवार को धारा 144 के अंतर्गत संशोधित आदेश जारी करते हुए भोपाल जिले की राजस्व सीमा में कोरोना कर्फ्यू को एक जून तक बढ़ा दिया है। शेष सभी प्रतिबंधात्मक आदेश पूर्ववत रहेंगे। उन्‍होंने कहा है कि अत्यंत विशेष परिस्थितियों में सक्षम अधिकारी के संतुष्ट होने पर आवेदक को किसी भी लागू शर्तों से छूट दी जा सकेगी। यह आदेश तत्काल  प्रभावशील होगा। इस आदेश का उल्लघंन करने वाले व्यक्ति के विरूद्व भारतीय दण्ड संहिता की धारा 188 के अंतर्गत कार्यवाही की जायेगी।   उल्‍लेखनीय है कि एक दिन पूर्व ही सीएम शिवराज ने प्रदेश भर के जिलों की समीक्षा के दौरान भोपाल संभाग की कोरोना की समीक्षा में सख्ती के साथ कोरोना कर्फ्यू बढ़ाने के निर्देश दिए थे। जिसमें उनका साफ कहना था कि अभी राजधानी भोपाल में संक्रमण दर भले ही कम हो गई हो, लेकिन यहां ढील देना ठीक नहीं होगा।  यदि ऐसा किया गया तो यह ढील फिर से संक्रमण को बढ़ा सकती है।इसलिए इस पर सभी जिलाधीशों को गहराई से विचार करना होगा।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


bhopal,Public curfew ,remain in Bhopal ,till June 1 morning

भोपाल। कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट, भोपाल अविनाश लवानिया ने भोपाल में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के दृष्टिगत जनता कर्फ्यू को एक जून  को प्रातः छह बजे तक जारी रखने के आदेश दिये हैं।    इस संबंध में जिला दंडाधिकारी अविनाश लवानिया ने शनिवार को धारा 144 के अंतर्गत संशोधित आदेश जारी करते हुए भोपाल जिले की राजस्व सीमा में कोरोना कर्फ्यू को एक जून तक बढ़ा दिया है। शेष सभी प्रतिबंधात्मक आदेश पूर्ववत रहेंगे। उन्‍होंने कहा है कि अत्यंत विशेष परिस्थितियों में सक्षम अधिकारी के संतुष्ट होने पर आवेदक को किसी भी लागू शर्तों से छूट दी जा सकेगी। यह आदेश तत्काल  प्रभावशील होगा। इस आदेश का उल्लघंन करने वाले व्यक्ति के विरूद्व भारतीय दण्ड संहिता की धारा 188 के अंतर्गत कार्यवाही की जायेगी।   उल्‍लेखनीय है कि एक दिन पूर्व ही सीएम शिवराज ने प्रदेश भर के जिलों की समीक्षा के दौरान भोपाल संभाग की कोरोना की समीक्षा में सख्ती के साथ कोरोना कर्फ्यू बढ़ाने के निर्देश दिए थे। जिसमें उनका साफ कहना था कि अभी राजधानी भोपाल में संक्रमण दर भले ही कम हो गई हो, लेकिन यहां ढील देना ठीक नहीं होगा।  यदि ऐसा किया गया तो यह ढील फिर से संक्रमण को बढ़ा सकती है।इसलिए इस पर सभी जिलाधीशों को गहराई से विचार करना होगा।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


bhopal,Public curfew ,remain in Bhopal ,till June 1 morning

भोपाल। कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट, भोपाल अविनाश लवानिया ने भोपाल में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के दृष्टिगत जनता कर्फ्यू को एक जून  को प्रातः छह बजे तक जारी रखने के आदेश दिये हैं।    इस संबंध में जिला दंडाधिकारी अविनाश लवानिया ने शनिवार को धारा 144 के अंतर्गत संशोधित आदेश जारी करते हुए भोपाल जिले की राजस्व सीमा में कोरोना कर्फ्यू को एक जून तक बढ़ा दिया है। शेष सभी प्रतिबंधात्मक आदेश पूर्ववत रहेंगे। उन्‍होंने कहा है कि अत्यंत विशेष परिस्थितियों में सक्षम अधिकारी के संतुष्ट होने पर आवेदक को किसी भी लागू शर्तों से छूट दी जा सकेगी। यह आदेश तत्काल  प्रभावशील होगा। इस आदेश का उल्लघंन करने वाले व्यक्ति के विरूद्व भारतीय दण्ड संहिता की धारा 188 के अंतर्गत कार्यवाही की जायेगी।   उल्‍लेखनीय है कि एक दिन पूर्व ही सीएम शिवराज ने प्रदेश भर के जिलों की समीक्षा के दौरान भोपाल संभाग की कोरोना की समीक्षा में सख्ती के साथ कोरोना कर्फ्यू बढ़ाने के निर्देश दिए थे। जिसमें उनका साफ कहना था कि अभी राजधानी भोपाल में संक्रमण दर भले ही कम हो गई हो, लेकिन यहां ढील देना ठीक नहीं होगा।  यदि ऐसा किया गया तो यह ढील फिर से संक्रमण को बढ़ा सकती है।इसलिए इस पर सभी जिलाधीशों को गहराई से विचार करना होगा।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


bhopal,Public curfew ,remain in Bhopal ,till June 1 morning

भोपाल। कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट, भोपाल अविनाश लवानिया ने भोपाल में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के दृष्टिगत जनता कर्फ्यू को एक जून  को प्रातः छह बजे तक जारी रखने के आदेश दिये हैं।    इस संबंध में जिला दंडाधिकारी अविनाश लवानिया ने शनिवार को धारा 144 के अंतर्गत संशोधित आदेश जारी करते हुए भोपाल जिले की राजस्व सीमा में कोरोना कर्फ्यू को एक जून तक बढ़ा दिया है। शेष सभी प्रतिबंधात्मक आदेश पूर्ववत रहेंगे। उन्‍होंने कहा है कि अत्यंत विशेष परिस्थितियों में सक्षम अधिकारी के संतुष्ट होने पर आवेदक को किसी भी लागू शर्तों से छूट दी जा सकेगी। यह आदेश तत्काल  प्रभावशील होगा। इस आदेश का उल्लघंन करने वाले व्यक्ति के विरूद्व भारतीय दण्ड संहिता की धारा 188 के अंतर्गत कार्यवाही की जायेगी।   उल्‍लेखनीय है कि एक दिन पूर्व ही सीएम शिवराज ने प्रदेश भर के जिलों की समीक्षा के दौरान भोपाल संभाग की कोरोना की समीक्षा में सख्ती के साथ कोरोना कर्फ्यू बढ़ाने के निर्देश दिए थे। जिसमें उनका साफ कहना था कि अभी राजधानी भोपाल में संक्रमण दर भले ही कम हो गई हो, लेकिन यहां ढील देना ठीक नहीं होगा।  यदि ऐसा किया गया तो यह ढील फिर से संक्रमण को बढ़ा सकती है।इसलिए इस पर सभी जिलाधीशों को गहराई से विचार करना होगा।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


bhopal,Public curfew ,remain in Bhopal ,till June 1 morning

भोपाल। कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट, भोपाल अविनाश लवानिया ने भोपाल में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के दृष्टिगत जनता कर्फ्यू को एक जून  को प्रातः छह बजे तक जारी रखने के आदेश दिये हैं।    इस संबंध में जिला दंडाधिकारी अविनाश लवानिया ने शनिवार को धारा 144 के अंतर्गत संशोधित आदेश जारी करते हुए भोपाल जिले की राजस्व सीमा में कोरोना कर्फ्यू को एक जून तक बढ़ा दिया है। शेष सभी प्रतिबंधात्मक आदेश पूर्ववत रहेंगे। उन्‍होंने कहा है कि अत्यंत विशेष परिस्थितियों में सक्षम अधिकारी के संतुष्ट होने पर आवेदक को किसी भी लागू शर्तों से छूट दी जा सकेगी। यह आदेश तत्काल  प्रभावशील होगा। इस आदेश का उल्लघंन करने वाले व्यक्ति के विरूद्व भारतीय दण्ड संहिता की धारा 188 के अंतर्गत कार्यवाही की जायेगी।   उल्‍लेखनीय है कि एक दिन पूर्व ही सीएम शिवराज ने प्रदेश भर के जिलों की समीक्षा के दौरान भोपाल संभाग की कोरोना की समीक्षा में सख्ती के साथ कोरोना कर्फ्यू बढ़ाने के निर्देश दिए थे। जिसमें उनका साफ कहना था कि अभी राजधानी भोपाल में संक्रमण दर भले ही कम हो गई हो, लेकिन यहां ढील देना ठीक नहीं होगा।  यदि ऐसा किया गया तो यह ढील फिर से संक्रमण को बढ़ा सकती है।इसलिए इस पर सभी जिलाधीशों को गहराई से विचार करना होगा।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


bhopal,Public curfew ,remain in Bhopal ,till June 1 morning

भोपाल। कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट, भोपाल अविनाश लवानिया ने भोपाल में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के दृष्टिगत जनता कर्फ्यू को एक जून  को प्रातः छह बजे तक जारी रखने के आदेश दिये हैं।    इस संबंध में जिला दंडाधिकारी अविनाश लवानिया ने शनिवार को धारा 144 के अंतर्गत संशोधित आदेश जारी करते हुए भोपाल जिले की राजस्व सीमा में कोरोना कर्फ्यू को एक जून तक बढ़ा दिया है। शेष सभी प्रतिबंधात्मक आदेश पूर्ववत रहेंगे। उन्‍होंने कहा है कि अत्यंत विशेष परिस्थितियों में सक्षम अधिकारी के संतुष्ट होने पर आवेदक को किसी भी लागू शर्तों से छूट दी जा सकेगी। यह आदेश तत्काल  प्रभावशील होगा। इस आदेश का उल्लघंन करने वाले व्यक्ति के विरूद्व भारतीय दण्ड संहिता की धारा 188 के अंतर्गत कार्यवाही की जायेगी।   उल्‍लेखनीय है कि एक दिन पूर्व ही सीएम शिवराज ने प्रदेश भर के जिलों की समीक्षा के दौरान भोपाल संभाग की कोरोना की समीक्षा में सख्ती के साथ कोरोना कर्फ्यू बढ़ाने के निर्देश दिए थे। जिसमें उनका साफ कहना था कि अभी राजधानी भोपाल में संक्रमण दर भले ही कम हो गई हो, लेकिन यहां ढील देना ठीक नहीं होगा।  यदि ऐसा किया गया तो यह ढील फिर से संक्रमण को बढ़ा सकती है।इसलिए इस पर सभी जिलाधीशों को गहराई से विचार करना होगा।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


bhopal,Public curfew ,remain in Bhopal ,till June 1 morning

भोपाल। कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट, भोपाल अविनाश लवानिया ने भोपाल में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के दृष्टिगत जनता कर्फ्यू को एक जून  को प्रातः छह बजे तक जारी रखने के आदेश दिये हैं।    इस संबंध में जिला दंडाधिकारी अविनाश लवानिया ने शनिवार को धारा 144 के अंतर्गत संशोधित आदेश जारी करते हुए भोपाल जिले की राजस्व सीमा में कोरोना कर्फ्यू को एक जून तक बढ़ा दिया है। शेष सभी प्रतिबंधात्मक आदेश पूर्ववत रहेंगे। उन्‍होंने कहा है कि अत्यंत विशेष परिस्थितियों में सक्षम अधिकारी के संतुष्ट होने पर आवेदक को किसी भी लागू शर्तों से छूट दी जा सकेगी। यह आदेश तत्काल  प्रभावशील होगा। इस आदेश का उल्लघंन करने वाले व्यक्ति के विरूद्व भारतीय दण्ड संहिता की धारा 188 के अंतर्गत कार्यवाही की जायेगी।   उल्‍लेखनीय है कि एक दिन पूर्व ही सीएम शिवराज ने प्रदेश भर के जिलों की समीक्षा के दौरान भोपाल संभाग की कोरोना की समीक्षा में सख्ती के साथ कोरोना कर्फ्यू बढ़ाने के निर्देश दिए थे। जिसमें उनका साफ कहना था कि अभी राजधानी भोपाल में संक्रमण दर भले ही कम हो गई हो, लेकिन यहां ढील देना ठीक नहीं होगा।  यदि ऐसा किया गया तो यह ढील फिर से संक्रमण को बढ़ा सकती है।इसलिए इस पर सभी जिलाधीशों को गहराई से विचार करना होगा।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


bhopal,Public curfew ,remain in Bhopal ,till June 1 morning

भोपाल। कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट, भोपाल अविनाश लवानिया ने भोपाल में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के दृष्टिगत जनता कर्फ्यू को एक जून  को प्रातः छह बजे तक जारी रखने के आदेश दिये हैं।    इस संबंध में जिला दंडाधिकारी अविनाश लवानिया ने शनिवार को धारा 144 के अंतर्गत संशोधित आदेश जारी करते हुए भोपाल जिले की राजस्व सीमा में कोरोना कर्फ्यू को एक जून तक बढ़ा दिया है। शेष सभी प्रतिबंधात्मक आदेश पूर्ववत रहेंगे। उन्‍होंने कहा है कि अत्यंत विशेष परिस्थितियों में सक्षम अधिकारी के संतुष्ट होने पर आवेदक को किसी भी लागू शर्तों से छूट दी जा सकेगी। यह आदेश तत्काल  प्रभावशील होगा। इस आदेश का उल्लघंन करने वाले व्यक्ति के विरूद्व भारतीय दण्ड संहिता की धारा 188 के अंतर्गत कार्यवाही की जायेगी।   उल्‍लेखनीय है कि एक दिन पूर्व ही सीएम शिवराज ने प्रदेश भर के जिलों की समीक्षा के दौरान भोपाल संभाग की कोरोना की समीक्षा में सख्ती के साथ कोरोना कर्फ्यू बढ़ाने के निर्देश दिए थे। जिसमें उनका साफ कहना था कि अभी राजधानी भोपाल में संक्रमण दर भले ही कम हो गई हो, लेकिन यहां ढील देना ठीक नहीं होगा।  यदि ऐसा किया गया तो यह ढील फिर से संक्रमण को बढ़ा सकती है।इसलिए इस पर सभी जिलाधीशों को गहराई से विचार करना होगा।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


bhopal,Public curfew ,remain in Bhopal ,till June 1 morning

भोपाल। कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट, भोपाल अविनाश लवानिया ने भोपाल में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के दृष्टिगत जनता कर्फ्यू को एक जून  को प्रातः छह बजे तक जारी रखने के आदेश दिये हैं।    इस संबंध में जिला दंडाधिकारी अविनाश लवानिया ने शनिवार को धारा 144 के अंतर्गत संशोधित आदेश जारी करते हुए भोपाल जिले की राजस्व सीमा में कोरोना कर्फ्यू को एक जून तक बढ़ा दिया है। शेष सभी प्रतिबंधात्मक आदेश पूर्ववत रहेंगे। उन्‍होंने कहा है कि अत्यंत विशेष परिस्थितियों में सक्षम अधिकारी के संतुष्ट होने पर आवेदक को किसी भी लागू शर्तों से छूट दी जा सकेगी। यह आदेश तत्काल  प्रभावशील होगा। इस आदेश का उल्लघंन करने वाले व्यक्ति के विरूद्व भारतीय दण्ड संहिता की धारा 188 के अंतर्गत कार्यवाही की जायेगी।   उल्‍लेखनीय है कि एक दिन पूर्व ही सीएम शिवराज ने प्रदेश भर के जिलों की समीक्षा के दौरान भोपाल संभाग की कोरोना की समीक्षा में सख्ती के साथ कोरोना कर्फ्यू बढ़ाने के निर्देश दिए थे। जिसमें उनका साफ कहना था कि अभी राजधानी भोपाल में संक्रमण दर भले ही कम हो गई हो, लेकिन यहां ढील देना ठीक नहीं होगा।  यदि ऐसा किया गया तो यह ढील फिर से संक्रमण को बढ़ा सकती है।इसलिए इस पर सभी जिलाधीशों को गहराई से विचार करना होगा।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


bhopal,Public curfew ,remain in Bhopal ,till June 1 morning

भोपाल। कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट, भोपाल अविनाश लवानिया ने भोपाल में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के दृष्टिगत जनता कर्फ्यू को एक जून  को प्रातः छह बजे तक जारी रखने के आदेश दिये हैं।    इस संबंध में जिला दंडाधिकारी अविनाश लवानिया ने शनिवार को धारा 144 के अंतर्गत संशोधित आदेश जारी करते हुए भोपाल जिले की राजस्व सीमा में कोरोना कर्फ्यू को एक जून तक बढ़ा दिया है। शेष सभी प्रतिबंधात्मक आदेश पूर्ववत रहेंगे। उन्‍होंने कहा है कि अत्यंत विशेष परिस्थितियों में सक्षम अधिकारी के संतुष्ट होने पर आवेदक को किसी भी लागू शर्तों से छूट दी जा सकेगी। यह आदेश तत्काल  प्रभावशील होगा। इस आदेश का उल्लघंन करने वाले व्यक्ति के विरूद्व भारतीय दण्ड संहिता की धारा 188 के अंतर्गत कार्यवाही की जायेगी।   उल्‍लेखनीय है कि एक दिन पूर्व ही सीएम शिवराज ने प्रदेश भर के जिलों की समीक्षा के दौरान भोपाल संभाग की कोरोना की समीक्षा में सख्ती के साथ कोरोना कर्फ्यू बढ़ाने के निर्देश दिए थे। जिसमें उनका साफ कहना था कि अभी राजधानी भोपाल में संक्रमण दर भले ही कम हो गई हो, लेकिन यहां ढील देना ठीक नहीं होगा।  यदि ऐसा किया गया तो यह ढील फिर से संक्रमण को बढ़ा सकती है।इसलिए इस पर सभी जिलाधीशों को गहराई से विचार करना होगा।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


bhopal,Public curfew ,remain in Bhopal ,till June 1 morning

भोपाल। कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट, भोपाल अविनाश लवानिया ने भोपाल में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के दृष्टिगत जनता कर्फ्यू को एक जून  को प्रातः छह बजे तक जारी रखने के आदेश दिये हैं।    इस संबंध में जिला दंडाधिकारी अविनाश लवानिया ने शनिवार को धारा 144 के अंतर्गत संशोधित आदेश जारी करते हुए भोपाल जिले की राजस्व सीमा में कोरोना कर्फ्यू को एक जून तक बढ़ा दिया है। शेष सभी प्रतिबंधात्मक आदेश पूर्ववत रहेंगे। उन्‍होंने कहा है कि अत्यंत विशेष परिस्थितियों में सक्षम अधिकारी के संतुष्ट होने पर आवेदक को किसी भी लागू शर्तों से छूट दी जा सकेगी। यह आदेश तत्काल  प्रभावशील होगा। इस आदेश का उल्लघंन करने वाले व्यक्ति के विरूद्व भारतीय दण्ड संहिता की धारा 188 के अंतर्गत कार्यवाही की जायेगी।   उल्‍लेखनीय है कि एक दिन पूर्व ही सीएम शिवराज ने प्रदेश भर के जिलों की समीक्षा के दौरान भोपाल संभाग की कोरोना की समीक्षा में सख्ती के साथ कोरोना कर्फ्यू बढ़ाने के निर्देश दिए थे। जिसमें उनका साफ कहना था कि अभी राजधानी भोपाल में संक्रमण दर भले ही कम हो गई हो, लेकिन यहां ढील देना ठीक नहीं होगा।  यदि ऐसा किया गया तो यह ढील फिर से संक्रमण को बढ़ा सकती है।इसलिए इस पर सभी जिलाधीशों को गहराई से विचार करना होगा।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


bhopal,Public curfew ,remain in Bhopal ,till June 1 morning

भोपाल। कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट, भोपाल अविनाश लवानिया ने भोपाल में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के दृष्टिगत जनता कर्फ्यू को एक जून  को प्रातः छह बजे तक जारी रखने के आदेश दिये हैं।    इस संबंध में जिला दंडाधिकारी अविनाश लवानिया ने शनिवार को धारा 144 के अंतर्गत संशोधित आदेश जारी करते हुए भोपाल जिले की राजस्व सीमा में कोरोना कर्फ्यू को एक जून तक बढ़ा दिया है। शेष सभी प्रतिबंधात्मक आदेश पूर्ववत रहेंगे। उन्‍होंने कहा है कि अत्यंत विशेष परिस्थितियों में सक्षम अधिकारी के संतुष्ट होने पर आवेदक को किसी भी लागू शर्तों से छूट दी जा सकेगी। यह आदेश तत्काल  प्रभावशील होगा। इस आदेश का उल्लघंन करने वाले व्यक्ति के विरूद्व भारतीय दण्ड संहिता की धारा 188 के अंतर्गत कार्यवाही की जायेगी।   उल्‍लेखनीय है कि एक दिन पूर्व ही सीएम शिवराज ने प्रदेश भर के जिलों की समीक्षा के दौरान भोपाल संभाग की कोरोना की समीक्षा में सख्ती के साथ कोरोना कर्फ्यू बढ़ाने के निर्देश दिए थे। जिसमें उनका साफ कहना था कि अभी राजधानी भोपाल में संक्रमण दर भले ही कम हो गई हो, लेकिन यहां ढील देना ठीक नहीं होगा।  यदि ऐसा किया गया तो यह ढील फिर से संक्रमण को बढ़ा सकती है।इसलिए इस पर सभी जिलाधीशों को गहराई से विचार करना होगा।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


bhopal,Public curfew ,remain in Bhopal ,till June 1 morning

भोपाल। कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट, भोपाल अविनाश लवानिया ने भोपाल में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के दृष्टिगत जनता कर्फ्यू को एक जून  को प्रातः छह बजे तक जारी रखने के आदेश दिये हैं।    इस संबंध में जिला दंडाधिकारी अविनाश लवानिया ने शनिवार को धारा 144 के अंतर्गत संशोधित आदेश जारी करते हुए भोपाल जिले की राजस्व सीमा में कोरोना कर्फ्यू को एक जून तक बढ़ा दिया है। शेष सभी प्रतिबंधात्मक आदेश पूर्ववत रहेंगे। उन्‍होंने कहा है कि अत्यंत विशेष परिस्थितियों में सक्षम अधिकारी के संतुष्ट होने पर आवेदक को किसी भी लागू शर्तों से छूट दी जा सकेगी। यह आदेश तत्काल  प्रभावशील होगा। इस आदेश का उल्लघंन करने वाले व्यक्ति के विरूद्व भारतीय दण्ड संहिता की धारा 188 के अंतर्गत कार्यवाही की जायेगी।   उल्‍लेखनीय है कि एक दिन पूर्व ही सीएम शिवराज ने प्रदेश भर के जिलों की समीक्षा के दौरान भोपाल संभाग की कोरोना की समीक्षा में सख्ती के साथ कोरोना कर्फ्यू बढ़ाने के निर्देश दिए थे। जिसमें उनका साफ कहना था कि अभी राजधानी भोपाल में संक्रमण दर भले ही कम हो गई हो, लेकिन यहां ढील देना ठीक नहीं होगा।  यदि ऐसा किया गया तो यह ढील फिर से संक्रमण को बढ़ा सकती है।इसलिए इस पर सभी जिलाधीशों को गहराई से विचार करना होगा।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


bhopal,Public curfew ,remain in Bhopal ,till June 1 morning

भोपाल। कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट, भोपाल अविनाश लवानिया ने भोपाल में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के दृष्टिगत जनता कर्फ्यू को एक जून  को प्रातः छह बजे तक जारी रखने के आदेश दिये हैं।    इस संबंध में जिला दंडाधिकारी अविनाश लवानिया ने शनिवार को धारा 144 के अंतर्गत संशोधित आदेश जारी करते हुए भोपाल जिले की राजस्व सीमा में कोरोना कर्फ्यू को एक जून तक बढ़ा दिया है। शेष सभी प्रतिबंधात्मक आदेश पूर्ववत रहेंगे। उन्‍होंने कहा है कि अत्यंत विशेष परिस्थितियों में सक्षम अधिकारी के संतुष्ट होने पर आवेदक को किसी भी लागू शर्तों से छूट दी जा सकेगी। यह आदेश तत्काल  प्रभावशील होगा। इस आदेश का उल्लघंन करने वाले व्यक्ति के विरूद्व भारतीय दण्ड संहिता की धारा 188 के अंतर्गत कार्यवाही की जायेगी।   उल्‍लेखनीय है कि एक दिन पूर्व ही सीएम शिवराज ने प्रदेश भर के जिलों की समीक्षा के दौरान भोपाल संभाग की कोरोना की समीक्षा में सख्ती के साथ कोरोना कर्फ्यू बढ़ाने के निर्देश दिए थे। जिसमें उनका साफ कहना था कि अभी राजधानी भोपाल में संक्रमण दर भले ही कम हो गई हो, लेकिन यहां ढील देना ठीक नहीं होगा।  यदि ऐसा किया गया तो यह ढील फिर से संक्रमण को बढ़ा सकती है।इसलिए इस पर सभी जिलाधीशों को गहराई से विचार करना होगा।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


bhopal,Public curfew ,remain in Bhopal ,till June 1 morning

भोपाल। कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट, भोपाल अविनाश लवानिया ने भोपाल में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के दृष्टिगत जनता कर्फ्यू को एक जून  को प्रातः छह बजे तक जारी रखने के आदेश दिये हैं।    इस संबंध में जिला दंडाधिकारी अविनाश लवानिया ने शनिवार को धारा 144 के अंतर्गत संशोधित आदेश जारी करते हुए भोपाल जिले की राजस्व सीमा में कोरोना कर्फ्यू को एक जून तक बढ़ा दिया है। शेष सभी प्रतिबंधात्मक आदेश पूर्ववत रहेंगे। उन्‍होंने कहा है कि अत्यंत विशेष परिस्थितियों में सक्षम अधिकारी के संतुष्ट होने पर आवेदक को किसी भी लागू शर्तों से छूट दी जा सकेगी। यह आदेश तत्काल  प्रभावशील होगा। इस आदेश का उल्लघंन करने वाले व्यक्ति के विरूद्व भारतीय दण्ड संहिता की धारा 188 के अंतर्गत कार्यवाही की जायेगी।   उल्‍लेखनीय है कि एक दिन पूर्व ही सीएम शिवराज ने प्रदेश भर के जिलों की समीक्षा के दौरान भोपाल संभाग की कोरोना की समीक्षा में सख्ती के साथ कोरोना कर्फ्यू बढ़ाने के निर्देश दिए थे। जिसमें उनका साफ कहना था कि अभी राजधानी भोपाल में संक्रमण दर भले ही कम हो गई हो, लेकिन यहां ढील देना ठीक नहीं होगा।  यदि ऐसा किया गया तो यह ढील फिर से संक्रमण को बढ़ा सकती है।इसलिए इस पर सभी जिलाधीशों को गहराई से विचार करना होगा।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


bhopal,Public curfew ,remain in Bhopal ,till June 1 morning

भोपाल। कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट, भोपाल अविनाश लवानिया ने भोपाल में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के दृष्टिगत जनता कर्फ्यू को एक जून  को प्रातः छह बजे तक जारी रखने के आदेश दिये हैं।    इस संबंध में जिला दंडाधिकारी अविनाश लवानिया ने शनिवार को धारा 144 के अंतर्गत संशोधित आदेश जारी करते हुए भोपाल जिले की राजस्व सीमा में कोरोना कर्फ्यू को एक जून तक बढ़ा दिया है। शेष सभी प्रतिबंधात्मक आदेश पूर्ववत रहेंगे। उन्‍होंने कहा है कि अत्यंत विशेष परिस्थितियों में सक्षम अधिकारी के संतुष्ट होने पर आवेदक को किसी भी लागू शर्तों से छूट दी जा सकेगी। यह आदेश तत्काल  प्रभावशील होगा। इस आदेश का उल्लघंन करने वाले व्यक्ति के विरूद्व भारतीय दण्ड संहिता की धारा 188 के अंतर्गत कार्यवाही की जायेगी।   उल्‍लेखनीय है कि एक दिन पूर्व ही सीएम शिवराज ने प्रदेश भर के जिलों की समीक्षा के दौरान भोपाल संभाग की कोरोना की समीक्षा में सख्ती के साथ कोरोना कर्फ्यू बढ़ाने के निर्देश दिए थे। जिसमें उनका साफ कहना था कि अभी राजधानी भोपाल में संक्रमण दर भले ही कम हो गई हो, लेकिन यहां ढील देना ठीक नहीं होगा।  यदि ऐसा किया गया तो यह ढील फिर से संक्रमण को बढ़ा सकती है।इसलिए इस पर सभी जिलाधीशों को गहराई से विचार करना होगा।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


bhopal,Public curfew ,remain in Bhopal ,till June 1 morning

भोपाल। कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट, भोपाल अविनाश लवानिया ने भोपाल में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के दृष्टिगत जनता कर्फ्यू को एक जून  को प्रातः छह बजे तक जारी रखने के आदेश दिये हैं।    इस संबंध में जिला दंडाधिकारी अविनाश लवानिया ने शनिवार को धारा 144 के अंतर्गत संशोधित आदेश जारी करते हुए भोपाल जिले की राजस्व सीमा में कोरोना कर्फ्यू को एक जून तक बढ़ा दिया है। शेष सभी प्रतिबंधात्मक आदेश पूर्ववत रहेंगे। उन्‍होंने कहा है कि अत्यंत विशेष परिस्थितियों में सक्षम अधिकारी के संतुष्ट होने पर आवेदक को किसी भी लागू शर्तों से छूट दी जा सकेगी। यह आदेश तत्काल  प्रभावशील होगा। इस आदेश का उल्लघंन करने वाले व्यक्ति के विरूद्व भारतीय दण्ड संहिता की धारा 188 के अंतर्गत कार्यवाही की जायेगी।   उल्‍लेखनीय है कि एक दिन पूर्व ही सीएम शिवराज ने प्रदेश भर के जिलों की समीक्षा के दौरान भोपाल संभाग की कोरोना की समीक्षा में सख्ती के साथ कोरोना कर्फ्यू बढ़ाने के निर्देश दिए थे। जिसमें उनका साफ कहना था कि अभी राजधानी भोपाल में संक्रमण दर भले ही कम हो गई हो, लेकिन यहां ढील देना ठीक नहीं होगा।  यदि ऐसा किया गया तो यह ढील फिर से संक्रमण को बढ़ा सकती है।इसलिए इस पर सभी जिलाधीशों को गहराई से विचार करना होगा।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


bhopal,Public curfew ,remain in Bhopal ,till June 1 morning

भोपाल। कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट, भोपाल अविनाश लवानिया ने भोपाल में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के दृष्टिगत जनता कर्फ्यू को एक जून  को प्रातः छह बजे तक जारी रखने के आदेश दिये हैं।    इस संबंध में जिला दंडाधिकारी अविनाश लवानिया ने शनिवार को धारा 144 के अंतर्गत संशोधित आदेश जारी करते हुए भोपाल जिले की राजस्व सीमा में कोरोना कर्फ्यू को एक जून तक बढ़ा दिया है। शेष सभी प्रतिबंधात्मक आदेश पूर्ववत रहेंगे। उन्‍होंने कहा है कि अत्यंत विशेष परिस्थितियों में सक्षम अधिकारी के संतुष्ट होने पर आवेदक को किसी भी लागू शर्तों से छूट दी जा सकेगी। यह आदेश तत्काल  प्रभावशील होगा। इस आदेश का उल्लघंन करने वाले व्यक्ति के विरूद्व भारतीय दण्ड संहिता की धारा 188 के अंतर्गत कार्यवाही की जायेगी।   उल्‍लेखनीय है कि एक दिन पूर्व ही सीएम शिवराज ने प्रदेश भर के जिलों की समीक्षा के दौरान भोपाल संभाग की कोरोना की समीक्षा में सख्ती के साथ कोरोना कर्फ्यू बढ़ाने के निर्देश दिए थे। जिसमें उनका साफ कहना था कि अभी राजधानी भोपाल में संक्रमण दर भले ही कम हो गई हो, लेकिन यहां ढील देना ठीक नहीं होगा।  यदि ऐसा किया गया तो यह ढील फिर से संक्रमण को बढ़ा सकती है।इसलिए इस पर सभी जिलाधीशों को गहराई से विचार करना होगा।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


bhopal,Public curfew ,remain in Bhopal ,till June 1 morning

भोपाल। कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट, भोपाल अविनाश लवानिया ने भोपाल में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के दृष्टिगत जनता कर्फ्यू को एक जून  को प्रातः छह बजे तक जारी रखने के आदेश दिये हैं।    इस संबंध में जिला दंडाधिकारी अविनाश लवानिया ने शनिवार को धारा 144 के अंतर्गत संशोधित आदेश जारी करते हुए भोपाल जिले की राजस्व सीमा में कोरोना कर्फ्यू को एक जून तक बढ़ा दिया है। शेष सभी प्रतिबंधात्मक आदेश पूर्ववत रहेंगे। उन्‍होंने कहा है कि अत्यंत विशेष परिस्थितियों में सक्षम अधिकारी के संतुष्ट होने पर आवेदक को किसी भी लागू शर्तों से छूट दी जा सकेगी। यह आदेश तत्काल  प्रभावशील होगा। इस आदेश का उल्लघंन करने वाले व्यक्ति के विरूद्व भारतीय दण्ड संहिता की धारा 188 के अंतर्गत कार्यवाही की जायेगी।   उल्‍लेखनीय है कि एक दिन पूर्व ही सीएम शिवराज ने प्रदेश भर के जिलों की समीक्षा के दौरान भोपाल संभाग की कोरोना की समीक्षा में सख्ती के साथ कोरोना कर्फ्यू बढ़ाने के निर्देश दिए थे। जिसमें उनका साफ कहना था कि अभी राजधानी भोपाल में संक्रमण दर भले ही कम हो गई हो, लेकिन यहां ढील देना ठीक नहीं होगा।  यदि ऐसा किया गया तो यह ढील फिर से संक्रमण को बढ़ा सकती है।इसलिए इस पर सभी जिलाधीशों को गहराई से विचार करना होगा।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


bhopal,Public curfew ,remain in Bhopal ,till June 1 morning

भोपाल। कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट, भोपाल अविनाश लवानिया ने भोपाल में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के दृष्टिगत जनता कर्फ्यू को एक जून  को प्रातः छह बजे तक जारी रखने के आदेश दिये हैं।    इस संबंध में जिला दंडाधिकारी अविनाश लवानिया ने शनिवार को धारा 144 के अंतर्गत संशोधित आदेश जारी करते हुए भोपाल जिले की राजस्व सीमा में कोरोना कर्फ्यू को एक जून तक बढ़ा दिया है। शेष सभी प्रतिबंधात्मक आदेश पूर्ववत रहेंगे। उन्‍होंने कहा है कि अत्यंत विशेष परिस्थितियों में सक्षम अधिकारी के संतुष्ट होने पर आवेदक को किसी भी लागू शर्तों से छूट दी जा सकेगी। यह आदेश तत्काल  प्रभावशील होगा। इस आदेश का उल्लघंन करने वाले व्यक्ति के विरूद्व भारतीय दण्ड संहिता की धारा 188 के अंतर्गत कार्यवाही की जायेगी।   उल्‍लेखनीय है कि एक दिन पूर्व ही सीएम शिवराज ने प्रदेश भर के जिलों की समीक्षा के दौरान भोपाल संभाग की कोरोना की समीक्षा में सख्ती के साथ कोरोना कर्फ्यू बढ़ाने के निर्देश दिए थे। जिसमें उनका साफ कहना था कि अभी राजधानी भोपाल में संक्रमण दर भले ही कम हो गई हो, लेकिन यहां ढील देना ठीक नहीं होगा।  यदि ऐसा किया गया तो यह ढील फिर से संक्रमण को बढ़ा सकती है।इसलिए इस पर सभी जिलाधीशों को गहराई से विचार करना होगा।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


bhopal,Public curfew ,remain in Bhopal ,till June 1 morning

भोपाल। कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट, भोपाल अविनाश लवानिया ने भोपाल में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के दृष्टिगत जनता कर्फ्यू को एक जून  को प्रातः छह बजे तक जारी रखने के आदेश दिये हैं।    इस संबंध में जिला दंडाधिकारी अविनाश लवानिया ने शनिवार को धारा 144 के अंतर्गत संशोधित आदेश जारी करते हुए भोपाल जिले की राजस्व सीमा में कोरोना कर्फ्यू को एक जून तक बढ़ा दिया है। शेष सभी प्रतिबंधात्मक आदेश पूर्ववत रहेंगे। उन्‍होंने कहा है कि अत्यंत विशेष परिस्थितियों में सक्षम अधिकारी के संतुष्ट होने पर आवेदक को किसी भी लागू शर्तों से छूट दी जा सकेगी। यह आदेश तत्काल  प्रभावशील होगा। इस आदेश का उल्लघंन करने वाले व्यक्ति के विरूद्व भारतीय दण्ड संहिता की धारा 188 के अंतर्गत कार्यवाही की जायेगी।   उल्‍लेखनीय है कि एक दिन पूर्व ही सीएम शिवराज ने प्रदेश भर के जिलों की समीक्षा के दौरान भोपाल संभाग की कोरोना की समीक्षा में सख्ती के साथ कोरोना कर्फ्यू बढ़ाने के निर्देश दिए थे। जिसमें उनका साफ कहना था कि अभी राजधानी भोपाल में संक्रमण दर भले ही कम हो गई हो, लेकिन यहां ढील देना ठीक नहीं होगा।  यदि ऐसा किया गया तो यह ढील फिर से संक्रमण को बढ़ा सकती है।इसलिए इस पर सभी जिलाधीशों को गहराई से विचार करना होगा।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


bhopal,Public curfew ,remain in Bhopal ,till June 1 morning

भोपाल। कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट, भोपाल अविनाश लवानिया ने भोपाल में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के दृष्टिगत जनता कर्फ्यू को एक जून  को प्रातः छह बजे तक जारी रखने के आदेश दिये हैं।    इस संबंध में जिला दंडाधिकारी अविनाश लवानिया ने शनिवार को धारा 144 के अंतर्गत संशोधित आदेश जारी करते हुए भोपाल जिले की राजस्व सीमा में कोरोना कर्फ्यू को एक जून तक बढ़ा दिया है। शेष सभी प्रतिबंधात्मक आदेश पूर्ववत रहेंगे। उन्‍होंने कहा है कि अत्यंत विशेष परिस्थितियों में सक्षम अधिकारी के संतुष्ट होने पर आवेदक को किसी भी लागू शर्तों से छूट दी जा सकेगी। यह आदेश तत्काल  प्रभावशील होगा। इस आदेश का उल्लघंन करने वाले व्यक्ति के विरूद्व भारतीय दण्ड संहिता की धारा 188 के अंतर्गत कार्यवाही की जायेगी।   उल्‍लेखनीय है कि एक दिन पूर्व ही सीएम शिवराज ने प्रदेश भर के जिलों की समीक्षा के दौरान भोपाल संभाग की कोरोना की समीक्षा में सख्ती के साथ कोरोना कर्फ्यू बढ़ाने के निर्देश दिए थे। जिसमें उनका साफ कहना था कि अभी राजधानी भोपाल में संक्रमण दर भले ही कम हो गई हो, लेकिन यहां ढील देना ठीक नहीं होगा।  यदि ऐसा किया गया तो यह ढील फिर से संक्रमण को बढ़ा सकती है।इसलिए इस पर सभी जिलाधीशों को गहराई से विचार करना होगा।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


bhopal,Public curfew ,remain in Bhopal ,till June 1 morning

भोपाल। कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट, भोपाल अविनाश लवानिया ने भोपाल में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के दृष्टिगत जनता कर्फ्यू को एक जून  को प्रातः छह बजे तक जारी रखने के आदेश दिये हैं।    इस संबंध में जिला दंडाधिकारी अविनाश लवानिया ने शनिवार को धारा 144 के अंतर्गत संशोधित आदेश जारी करते हुए भोपाल जिले की राजस्व सीमा में कोरोना कर्फ्यू को एक जून तक बढ़ा दिया है। शेष सभी प्रतिबंधात्मक आदेश पूर्ववत रहेंगे। उन्‍होंने कहा है कि अत्यंत विशेष परिस्थितियों में सक्षम अधिकारी के संतुष्ट होने पर आवेदक को किसी भी लागू शर्तों से छूट दी जा सकेगी। यह आदेश तत्काल  प्रभावशील होगा। इस आदेश का उल्लघंन करने वाले व्यक्ति के विरूद्व भारतीय दण्ड संहिता की धारा 188 के अंतर्गत कार्यवाही की जायेगी।   उल्‍लेखनीय है कि एक दिन पूर्व ही सीएम शिवराज ने प्रदेश भर के जिलों की समीक्षा के दौरान भोपाल संभाग की कोरोना की समीक्षा में सख्ती के साथ कोरोना कर्फ्यू बढ़ाने के निर्देश दिए थे। जिसमें उनका साफ कहना था कि अभी राजधानी भोपाल में संक्रमण दर भले ही कम हो गई हो, लेकिन यहां ढील देना ठीक नहीं होगा।  यदि ऐसा किया गया तो यह ढील फिर से संक्रमण को बढ़ा सकती है।इसलिए इस पर सभी जिलाधीशों को गहराई से विचार करना होगा।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


bhopal,Public curfew ,remain in Bhopal ,till June 1 morning

भोपाल। कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट, भोपाल अविनाश लवानिया ने भोपाल में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के दृष्टिगत जनता कर्फ्यू को एक जून  को प्रातः छह बजे तक जारी रखने के आदेश दिये हैं।    इस संबंध में जिला दंडाधिकारी अविनाश लवानिया ने शनिवार को धारा 144 के अंतर्गत संशोधित आदेश जारी करते हुए भोपाल जिले की राजस्व सीमा में कोरोना कर्फ्यू को एक जून तक बढ़ा दिया है। शेष सभी प्रतिबंधात्मक आदेश पूर्ववत रहेंगे। उन्‍होंने कहा है कि अत्यंत विशेष परिस्थितियों में सक्षम अधिकारी के संतुष्ट होने पर आवेदक को किसी भी लागू शर्तों से छूट दी जा सकेगी। यह आदेश तत्काल  प्रभावशील होगा। इस आदेश का उल्लघंन करने वाले व्यक्ति के विरूद्व भारतीय दण्ड संहिता की धारा 188 के अंतर्गत कार्यवाही की जायेगी।   उल्‍लेखनीय है कि एक दिन पूर्व ही सीएम शिवराज ने प्रदेश भर के जिलों की समीक्षा के दौरान भोपाल संभाग की कोरोना की समीक्षा में सख्ती के साथ कोरोना कर्फ्यू बढ़ाने के निर्देश दिए थे। जिसमें उनका साफ कहना था कि अभी राजधानी भोपाल में संक्रमण दर भले ही कम हो गई हो, लेकिन यहां ढील देना ठीक नहीं होगा।  यदि ऐसा किया गया तो यह ढील फिर से संक्रमण को बढ़ा सकती है।इसलिए इस पर सभी जिलाधीशों को गहराई से विचार करना होगा।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


bhopal,Public curfew ,remain in Bhopal ,till June 1 morning

भोपाल। कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट, भोपाल अविनाश लवानिया ने भोपाल में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के दृष्टिगत जनता कर्फ्यू को एक जून  को प्रातः छह बजे तक जारी रखने के आदेश दिये हैं।    इस संबंध में जिला दंडाधिकारी अविनाश लवानिया ने शनिवार को धारा 144 के अंतर्गत संशोधित आदेश जारी करते हुए भोपाल जिले की राजस्व सीमा में कोरोना कर्फ्यू को एक जून तक बढ़ा दिया है। शेष सभी प्रतिबंधात्मक आदेश पूर्ववत रहेंगे। उन्‍होंने कहा है कि अत्यंत विशेष परिस्थितियों में सक्षम अधिकारी के संतुष्ट होने पर आवेदक को किसी भी लागू शर्तों से छूट दी जा सकेगी। यह आदेश तत्काल  प्रभावशील होगा। इस आदेश का उल्लघंन करने वाले व्यक्ति के विरूद्व भारतीय दण्ड संहिता की धारा 188 के अंतर्गत कार्यवाही की जायेगी।   उल्‍लेखनीय है कि एक दिन पूर्व ही सीएम शिवराज ने प्रदेश भर के जिलों की समीक्षा के दौरान भोपाल संभाग की कोरोना की समीक्षा में सख्ती के साथ कोरोना कर्फ्यू बढ़ाने के निर्देश दिए थे। जिसमें उनका साफ कहना था कि अभी राजधानी भोपाल में संक्रमण दर भले ही कम हो गई हो, लेकिन यहां ढील देना ठीक नहीं होगा।  यदि ऐसा किया गया तो यह ढील फिर से संक्रमण को बढ़ा सकती है।इसलिए इस पर सभी जिलाधीशों को गहराई से विचार करना होगा।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


bhopal,Public curfew ,remain in Bhopal ,till June 1 morning

भोपाल। कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट, भोपाल अविनाश लवानिया ने भोपाल में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के दृष्टिगत जनता कर्फ्यू को एक जून  को प्रातः छह बजे तक जारी रखने के आदेश दिये हैं।    इस संबंध में जिला दंडाधिकारी अविनाश लवानिया ने शनिवार को धारा 144 के अंतर्गत संशोधित आदेश जारी करते हुए भोपाल जिले की राजस्व सीमा में कोरोना कर्फ्यू को एक जून तक बढ़ा दिया है। शेष सभी प्रतिबंधात्मक आदेश पूर्ववत रहेंगे। उन्‍होंने कहा है कि अत्यंत विशेष परिस्थितियों में सक्षम अधिकारी के संतुष्ट होने पर आवेदक को किसी भी लागू शर्तों से छूट दी जा सकेगी। यह आदेश तत्काल  प्रभावशील होगा। इस आदेश का उल्लघंन करने वाले व्यक्ति के विरूद्व भारतीय दण्ड संहिता की धारा 188 के अंतर्गत कार्यवाही की जायेगी।   उल्‍लेखनीय है कि एक दिन पूर्व ही सीएम शिवराज ने प्रदेश भर के जिलों की समीक्षा के दौरान भोपाल संभाग की कोरोना की समीक्षा में सख्ती के साथ कोरोना कर्फ्यू बढ़ाने के निर्देश दिए थे। जिसमें उनका साफ कहना था कि अभी राजधानी भोपाल में संक्रमण दर भले ही कम हो गई हो, लेकिन यहां ढील देना ठीक नहीं होगा।  यदि ऐसा किया गया तो यह ढील फिर से संक्रमण को बढ़ा सकती है।इसलिए इस पर सभी जिलाधीशों को गहराई से विचार करना होगा।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


bhopal,Public curfew ,remain in Bhopal ,till June 1 morning

भोपाल। कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट, भोपाल अविनाश लवानिया ने भोपाल में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के दृष्टिगत जनता कर्फ्यू को एक जून  को प्रातः छह बजे तक जारी रखने के आदेश दिये हैं।    इस संबंध में जिला दंडाधिकारी अविनाश लवानिया ने शनिवार को धारा 144 के अंतर्गत संशोधित आदेश जारी करते हुए भोपाल जिले की राजस्व सीमा में कोरोना कर्फ्यू को एक जून तक बढ़ा दिया है। शेष सभी प्रतिबंधात्मक आदेश पूर्ववत रहेंगे। उन्‍होंने कहा है कि अत्यंत विशेष परिस्थितियों में सक्षम अधिकारी के संतुष्ट होने पर आवेदक को किसी भी लागू शर्तों से छूट दी जा सकेगी। यह आदेश तत्काल  प्रभावशील होगा। इस आदेश का उल्लघंन करने वाले व्यक्ति के विरूद्व भारतीय दण्ड संहिता की धारा 188 के अंतर्गत कार्यवाही की जायेगी।   उल्‍लेखनीय है कि एक दिन पूर्व ही सीएम शिवराज ने प्रदेश भर के जिलों की समीक्षा के दौरान भोपाल संभाग की कोरोना की समीक्षा में सख्ती के साथ कोरोना कर्फ्यू बढ़ाने के निर्देश दिए थे। जिसमें उनका साफ कहना था कि अभी राजधानी भोपाल में संक्रमण दर भले ही कम हो गई हो, लेकिन यहां ढील देना ठीक नहीं होगा।  यदि ऐसा किया गया तो यह ढील फिर से संक्रमण को बढ़ा सकती है।इसलिए इस पर सभी जिलाधीशों को गहराई से विचार करना होगा।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


bhopal,Public curfew ,remain in Bhopal ,till June 1 morning

भोपाल। कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट, भोपाल अविनाश लवानिया ने भोपाल में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के दृष्टिगत जनता कर्फ्यू को एक जून  को प्रातः छह बजे तक जारी रखने के आदेश दिये हैं।    इस संबंध में जिला दंडाधिकारी अविनाश लवानिया ने शनिवार को धारा 144 के अंतर्गत संशोधित आदेश जारी करते हुए भोपाल जिले की राजस्व सीमा में कोरोना कर्फ्यू को एक जून तक बढ़ा दिया है। शेष सभी प्रतिबंधात्मक आदेश पूर्ववत रहेंगे। उन्‍होंने कहा है कि अत्यंत विशेष परिस्थितियों में सक्षम अधिकारी के संतुष्ट होने पर आवेदक को किसी भी लागू शर्तों से छूट दी जा सकेगी। यह आदेश तत्काल  प्रभावशील होगा। इस आदेश का उल्लघंन करने वाले व्यक्ति के विरूद्व भारतीय दण्ड संहिता की धारा 188 के अंतर्गत कार्यवाही की जायेगी।   उल्‍लेखनीय है कि एक दिन पूर्व ही सीएम शिवराज ने प्रदेश भर के जिलों की समीक्षा के दौरान भोपाल संभाग की कोरोना की समीक्षा में सख्ती के साथ कोरोना कर्फ्यू बढ़ाने के निर्देश दिए थे। जिसमें उनका साफ कहना था कि अभी राजधानी भोपाल में संक्रमण दर भले ही कम हो गई हो, लेकिन यहां ढील देना ठीक नहीं होगा।  यदि ऐसा किया गया तो यह ढील फिर से संक्रमण को बढ़ा सकती है।इसलिए इस पर सभी जिलाधीशों को गहराई से विचार करना होगा।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


guna,Villagers are not allowing, outsiders and officers,enter the village

गुना। जनपद पंचायत की टीमें मंगलवार को पैंची, पाखरियापुरा और कनकानेहरू गांव की सीमा पर पहुंची, तो ग्रामीणों ने बाहर ही रोक दिया। साथ ही अधिकारियों के सामने शपथ लेकर कहा कि वह ग्रामीणों को कोरोना के खतरे से बचाने के लिए बाहरी व्यक्तियों को प्रवेश नहीं करने देंगे, जिसकी वजह से उनका गांव कोरोना संक्रमण से बच जाएगा। हालांकि, ग्रामीण केवल स्वास्थ्य विभाग की टीमों को गांव की सीमा में घुसने दे रहे हैं, इसके पीछे की वजह यह है कि जो भी व्यक्ति बुखार और अन्य बीमारियों से पीडि़त है, उनको दवाएं उपलब्ध करा रहे हैं। इसके अलावा अन्य टीमों के ग्रामीण हाथ जोडक़र कह रहे हैं कि उनके गांव में वह प्रवेश न करें।    चांचौढ़ा जनपद के ब्लॉक को-आर्डिनेटर शंकरदयाल बरुआ अपनी टीम के साथ पैंची, पाखरियापुरा और कनकानेहरू गांव की सीमा में पहुंचे। इस दौरान ग्रामीणों ने हाथ जोडक़र टीमों को सीमा के बाहर ही रोक दिया। उन्होंने कहा कि आप लोग गांव में क्यों प्रवेश कर रहे हैं। टीम के सदस्यों ने कहा कि वह गांव में किल कोरोना अभियान के तहत लोगों को जागरूक करने के लिए आए हैं। ग्रामीणों ने कहा कि वह पिछले कोरोना काल से ही जागरूक हैं, वह अपने ग्रामों में केवल स्वास्थ्य विभाग की टीमों को प्रवेश देंगे, क्योंकि अधिकारी भी संक्रमित हो सकते हैं।   जनपद की टीम से कहा- आप लोग भी सुरक्षित रहें: पैंची गांव के ग्रामीण रामलखन सिंह ने जनपद पंचायत की टीम से कहा कि आप लोग कोरोना योद्धा हैं, आप लोग हमें कोरोना संक्रमण से बचाने के लिए डोर-टू-डोर अभियान चला रहे हैं, लेकिन आप लोग भी सुरक्षित रहें। साथ ही जनपद पंचायत की टीम का ताली बजाकर स्वागत भी किया।  सामुदायिक स्वास्थ्य विभाग बीनागंज के ब्लॉक मेडिकल अधिकारी डॉ. टिंकू वर्मा मंगलवार की सुबह गोरखाखेड़ा गांव में पहुंचे। उन्हें सूचना मिली थी कि इस ग्राम में 6 लोगों की मौत हुई है, लेकिन जब वह गांव में पहुंचे, तो ग्रामीणों ने कहा कि इस ग्राम में किसी भी संक्रमित व्यक्ति की मौत नहीं हुई है।  

Dakhal News

Dakhal News 18 May 2021


bhopal, 14th Oxygen Express, arrives in Madhya Pradesh, 500 MT supplied

भोपाल। भारतीय रेलवे द्वारा देश भर के विभिन्न राज्यों में ऑक्सीजन एक्सप्रेस ट्रेनों को चलाने के प्रयासों को गति देते हुए कोविड के खिलाफ सयुंक्त जंग को मजबूती प्रदान करने तथा  कोविड मरीजों को राहत प्रदान के लिए जीवन रक्षक के रूप में तरल चिकित्सा ऑक्सीजन (एलएमओ) के परिवहन के लिए लगातार ऑक्सीजन एक्सप्रेस ट्रेन चलाई जा रही है। इसे रोल ऑन रोल ऑफ सेवा के तहत ऑक्सीजन टैंकरों को ट्रक के माध्यम से जल्द से जल्द उनके गंतव्य स्टेशन तक पहुंचाया जा रहा है। इस सुविधा के अंतर्गत मध्य प्रदेश के लिए 14वीं ऑक्सीजन एक्सप्रेस को तरल चिकित्सा ऑक्सीजन (एलएमओ) से भरे 02 टैंकरों के साथ रोल ऑन-रोल ऑफ (आरओ-आरओ) सेवा में बोकारो से मंगलवार सागर (मकरोनिया) पहुंची।    उल्‍लेखनीय है कि इस ऑक्सीजन एक्सप्रेस के दो टैंकरों में 21.77 मीट्रिक टन तरल चिकित्सा ऑक्सीजन (एलएमओ) भरी है। ऑक्सीजन एक्सप्रेस से  दो टैंकर तरल चिकित्सा ऑक्सीजन मकरोनिया (सागर) में अनलोड किये गए। यह ऑक्सीजन एक्सप्रेस बोकारो से  कोटशिला, झारसुगुड़ा, बिलासपुर, नई कटनी जंक्शन होते हुए सागर के मकरोनिया स्टेशन पहुंची है । अब तक भारतीय रेल द्वारा मध्यप्रदेश में कुल 14 ऑक्सीजन एक्सप्रेस पहुंचाई जा चुकी हैं  जिनसे 44 टैंकरों में कुल 497.77 (लगभग 500 एमटी तक) मीट्रिक टन तरल चिकित्सा ऑक्सीजन की पूर्ति की गई है।   इस संबंध में पश्चिम मध्य रेल, जबलपुर की ओर से बताया गया हिक भारतीय रेलवे द्वारा अब तक 53 ऑक्सीजन एक्सप्रेस पश्चिम मध्य रेल से गुजर कर देश भर में तरल चिकित्सा ऑक्सीजन की आपूर्ति की गई है। रेलवे ऑक्सीजन एक्सप्रेस माल गाड़ियों के प्रचालन में नए मानदंड स्थापित कर रहा है। ऑक्सीजन एक्सप्रेस की ढुलाई एक जटिल प्रक्रिया है फिर भी लंबी दूरी वाले मार्गों पर ऑक्सीजन एक्सप्रेस ज्यादातर मामलों में 55 किमी प्रति घंटे की गति से चल रही है। ग्रीन कॉरिडोर में चलने वाली इन माल गाड़ियों के परिवहन को सर्वोच्च प्राथमिकता दी जा रही है और इसकी आपात आवश्यकता को समझते हुए विभिन्न क्षेत्रों के रेल अधिकारी और कर्मचारी वर्तमान चुनौतीपूर्ण परिस्थितियों में निरंतर कार्य कर रहे हैं।    भारतीय रेलवे द्वारा देश भर के राज्यों के लिए चलने वाली ऑक्सीजन एक्सप्रेस बोकारो, राउरकेला, अंगुल एवं रायगढ़ से चलकर पश्चिम मध्य रेल के न्यू कटनी , सागर एवं बीना स्टेशनों से गुजरते हुए दिल्ली , हरियाणा  एवं अन्य राज्यों के लिये परिवहन किया गया। भारतीय रेलवे द्वारा 160 ऑक्सीजन एक्सप्रेस से 10300 मीट्रिक टन तरल चिकित्सा ऑक्सीजन देश भर के राज्यों को आपूर्ति की गई है।   पश्चिम मध्य रेल की ओर से यह भी कहा गया है कि भारतीय रेलवे, राज्यों की मांग पर यथासंभव मात्रा और कम से कम समय में तरल चिकित्सा ऑक्सीजन की आपूर्ति के लिए प्रतिबद्ध है और इस पर लगातार काम कर रहा है। तरल चिकित्सा ऑक्सीजन की आपूर्ति के लिए भारतीय रेलवे को राज्य सरकारों द्वारा उपलब्ध कराये जाते हैं।

Dakhal News

Dakhal News 18 May 2021


indore,1262 new cases ,corona , five died

इंदौर। मध्यप्रदेश की आर्थिक राजधानी इंदौर में कोरोना के मामलों में लगातार कमी आ रही है। इंदौर में बीते 24 घंटों में कोरोना के 1262 नए मामले सामने आए हैं जबकि कोरोना से पांच लोगों की मौत भी हुई है। इसके बाद यहां संक्रमित मरीजों की कुल संख्या बढ़कर करीब 1 लाख, 40 हजार 447 और मृतकों की संख्या 1274 हो गई है।    इंदौर के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. बी.एस सैत्या ने मंगलवार को बताया कि एमजीएम मेडिकल कॉलेज द्वारा सोमवार देर रात 9761 सेम्पलों की जांच रिपोर्ट जारी की गई। इनमें 1262 व्यक्ति पॉजिटिव पाए गए जबकि शेष लोगों की रिपोर्ट निगेटिव आई। इन नये मामलों के साथ जिले में अब संक्रमित मरीजों की कुल संख्या 1 लाख, 40 हजार 447 हो गई है। वहीं, इंदौर में बीते 24 घंटों में कोरोना से पांच मरीजों की मौत की पुष्टि हुई है। अब यहां मृतकों की संख्या 1274 हो गई है। हालांकि, यहां बीते 24 घंटे में 2121 मरीज स्वस्थ हुए हैं। यहां अब तक 1 लाख, 26 हजार, 362 मरीज कोरोना को मात देकर अपने घर पहुंच गए हैं। फिलहाल 12811 कोरोना पाजिटिव मरीजों का इलाज चल रहा है।

Dakhal News

Dakhal News 18 May 2021


ujjain, Injection from Surat, Black Fungus operation, Ujjain for Rs 4200

उज्जैन। ब्लैक फंगस के मामले सामने आने के बाद जहां लोगों में घबराहट है वहीं डॉक्टर्स भी उपचार के लिए आवश्यक इंजेक्शन बाजार में उपलब्ध नहीं होने के कारण परेशान हैं। आर डी गार्डी मेडिकल कॉलेज के वरिष्ठ नेत्र सर्जन डॉ.सुधाकर वैद्य के अनुसार एक मरीज का ऑपरेशन होना  था। परिजनों ने तलाशा और सूरत(गुजरात)से उक्त इंजेक्शन मंगवाया। इसकी कीमत थी मात्र 127 रू.।  यहां यह गौरतलब है कि यही इंजेक्शन शहर में एक व्यक्ति ने   4200 रू. में खरीदा।   इंजेक्शन खरीदने वाले व्यक्ति ने नाम प्रकाशित नहीं करने की शर्त पर बताया कि  एक मेडिकल स्टोर्सवाले ने कहाकि तीन बत्ती से होकर आता हूं। आधे घण्टे बाद आया ओर बोला कि 4200 रू. में मिलेगा। मजबूरी थी,इसलिए ऐसे चार इंजेक्शन खरीद लिए।   रेमडेसिविर की तरह लिखने लगे इसे डॉक्टर्स शहर के अनेक मेडिकल स्टोर्स से यह बात निकलकर सामने आ रही है कि जिस प्रकार से कोरोना को लेकर डॉक्टर्स ने पर्चे पर रेमडेसीवर इंजेक्शन लिखना शुरू कर दिया था (उन्हें पता था कि यह बाजार में उपलब्ध नहीं है),ठीक उसी प्रकार से अब नेत्र रोग चिकित्सकों ने उक्त और अन्य कंटेंटवाले इंजेक्शन लिखना शुरू कर दिया है। जबकि उन्हे पता है कि बाजार में ये उपलब्ध नहीं हैं। एक डॉक्टर ने अनौपचारिक चर्चा में कहा कि हमारी मजबूरी है लिखने की। कल से डेथ हो जाए तो डेथ ऑडिट में यह बात आएगी कि उचित उपचार नहीं हुआ,दवाईयां लिखी नहीं गई,दी नहीं गई। इसलिए हमारी ओर से लिख दिया। अब गेंद मरीज के पाले में है।

Dakhal News

Dakhal News 15 May 2021


ujjain, Injection from Surat, Black Fungus operation, Ujjain for Rs 4200

उज्जैन। ब्लैक फंगस के मामले सामने आने के बाद जहां लोगों में घबराहट है वहीं डॉक्टर्स भी उपचार के लिए आवश्यक इंजेक्शन बाजार में उपलब्ध नहीं होने के कारण परेशान हैं। आर डी गार्डी मेडिकल कॉलेज के वरिष्ठ नेत्र सर्जन डॉ.सुधाकर वैद्य के अनुसार एक मरीज का ऑपरेशन होना  था। परिजनों ने तलाशा और सूरत(गुजरात)से उक्त इंजेक्शन मंगवाया। इसकी कीमत थी मात्र 127 रू.।  यहां यह गौरतलब है कि यही इंजेक्शन शहर में एक व्यक्ति ने   4200 रू. में खरीदा।   इंजेक्शन खरीदने वाले व्यक्ति ने नाम प्रकाशित नहीं करने की शर्त पर बताया कि  एक मेडिकल स्टोर्सवाले ने कहाकि तीन बत्ती से होकर आता हूं। आधे घण्टे बाद आया ओर बोला कि 4200 रू. में मिलेगा। मजबूरी थी,इसलिए ऐसे चार इंजेक्शन खरीद लिए।   रेमडेसिविर की तरह लिखने लगे इसे डॉक्टर्स शहर के अनेक मेडिकल स्टोर्स से यह बात निकलकर सामने आ रही है कि जिस प्रकार से कोरोना को लेकर डॉक्टर्स ने पर्चे पर रेमडेसीवर इंजेक्शन लिखना शुरू कर दिया था (उन्हें पता था कि यह बाजार में उपलब्ध नहीं है),ठीक उसी प्रकार से अब नेत्र रोग चिकित्सकों ने उक्त और अन्य कंटेंटवाले इंजेक्शन लिखना शुरू कर दिया है। जबकि उन्हे पता है कि बाजार में ये उपलब्ध नहीं हैं। एक डॉक्टर ने अनौपचारिक चर्चा में कहा कि हमारी मजबूरी है लिखने की। कल से डेथ हो जाए तो डेथ ऑडिट में यह बात आएगी कि उचित उपचार नहीं हुआ,दवाईयां लिखी नहीं गई,दी नहीं गई। इसलिए हमारी ओर से लिख दिया। अब गेंद मरीज के पाले में है।

Dakhal News

Dakhal News 15 May 2021


ujjain, Injection from Surat, Black Fungus operation, Ujjain for Rs 4200

उज्जैन। ब्लैक फंगस के मामले सामने आने के बाद जहां लोगों में घबराहट है वहीं डॉक्टर्स भी उपचार के लिए आवश्यक इंजेक्शन बाजार में उपलब्ध नहीं होने के कारण परेशान हैं। आर डी गार्डी मेडिकल कॉलेज के वरिष्ठ नेत्र सर्जन डॉ.सुधाकर वैद्य के अनुसार एक मरीज का ऑपरेशन होना  था। परिजनों ने तलाशा और सूरत(गुजरात)से उक्त इंजेक्शन मंगवाया। इसकी कीमत थी मात्र 127 रू.।  यहां यह गौरतलब है कि यही इंजेक्शन शहर में एक व्यक्ति ने   4200 रू. में खरीदा।   इंजेक्शन खरीदने वाले व्यक्ति ने नाम प्रकाशित नहीं करने की शर्त पर बताया कि  एक मेडिकल स्टोर्सवाले ने कहाकि तीन बत्ती से होकर आता हूं। आधे घण्टे बाद आया ओर बोला कि 4200 रू. में मिलेगा। मजबूरी थी,इसलिए ऐसे चार इंजेक्शन खरीद लिए।   रेमडेसिविर की तरह लिखने लगे इसे डॉक्टर्स शहर के अनेक मेडिकल स्टोर्स से यह बात निकलकर सामने आ रही है कि जिस प्रकार से कोरोना को लेकर डॉक्टर्स ने पर्चे पर रेमडेसीवर इंजेक्शन लिखना शुरू कर दिया था (उन्हें पता था कि यह बाजार में उपलब्ध नहीं है),ठीक उसी प्रकार से अब नेत्र रोग चिकित्सकों ने उक्त और अन्य कंटेंटवाले इंजेक्शन लिखना शुरू कर दिया है। जबकि उन्हे पता है कि बाजार में ये उपलब्ध नहीं हैं। एक डॉक्टर ने अनौपचारिक चर्चा में कहा कि हमारी मजबूरी है लिखने की। कल से डेथ हो जाए तो डेथ ऑडिट में यह बात आएगी कि उचित उपचार नहीं हुआ,दवाईयां लिखी नहीं गई,दी नहीं गई। इसलिए हमारी ओर से लिख दिया। अब गेंद मरीज के पाले में है।

Dakhal News

Dakhal News 15 May 2021


Bhopal, Less than 8 thousand cases ,corona came, after one month , state

भोपाल। कोरोना संक्रमण की चैन तोड़ने लगाए गए लॉकडाउन और सख्ती का परिणाम अब दिखाई देने लगा है। मध्यप्रदेश में संक्रमितों की संख्या में लगातार कमी आ रही है। बीते 24 घंटे में प्रदेश में 7,571 नए पॉजिटिव केस सामने आए हैं। एक महीने बाद यह पहला मौका है, जब नए केस 8 हजार से कम आए हैं।   स्वास्थ्य विभाग की रिपोर्ट के अनुसार पिछले 10 दिनों से प्रदेश में कोरोना के केस हर दिन कम हो रहे हैं। पॉजिटिविटी रेट 10 दिन में 18 फीसद से घटकर 11 फीसद पर आ गया है। स्वास्थ्य विभाग की ताजा रिपोर्ट के अनुसार 5 जिले दतिया, भिंड, मुरैना, अशोकनगर और गुना में 50-50 से भी कम केस दर्ज किए गए। नए संक्रमितों को मिलाकर प्रदेश में कुल संक्रमित 7 लाख 24 हजार 279 हो गए है। इसमें से 6 लाख 17 हजार 396 संक्रमित कोरोना को मात देकर ठीक हो चुके हैं। प्रदेश में अब तक कोरोना से 6 हजार 913 मौतें हो चुकी हैं। इसमें 14 मई को हुई 72 मौतें भी शामिल हैं।    गौरतलब है कि कोरोना से मई के 14 दिनों में 1,111 मौतें हो चुकी हैं। हालांकि पॉजिटिविटी रेट लगातार कम होता जा रहा है। 14 मई को यह 11 फीसद पर आ गया है। 13 मई को 12 फीसद दर्ज किया गया था। जो मई के शुरुआत में 25 फीसद तक पहुंच गया था।   मध्यप्रदेश में एक्टिव केस की संख्या 99 970 पर पहुंच गई है। बीते 24 घंटे में इंदौर में 1548 , भोपाल में 1241 , ग्वालियर में 376 और जबलपुर में 301 नए संक्रमित मिले हैं। प्रदेश में पिछले 24 घंटे में सबसे ज्यादा भोपाल में 9 मौतें हुईं। इंदौर और ग्वालियर में 8-8 और जबलपुर में 3 लोगों की कोरोना के कारण मौत हुई है।

Dakhal News

Dakhal News 15 May 2021


bhopal, Effect of storm , MP season, thunderstorm and rain , Gwalior-Chambal

भोपाल। अरब सागर में बन रहा चक्रवाती तूफान टाक्टे अवदाब के क्षेत्र से अब चक्रवात के रूप में बदल गया है। इस सिस्टम के लगभग 24 घंटे समुद्र में रहकर काफी ऊर्जा जुटाने के बाद इस उत्तर, उत्तर-पश्चिम दिशा में आगे बढऩे की संभावना है। 16 मई को इसके गुजरात के तट पर टकराने के आसार दिख रहे हैं। इसके प्रभाव से शनिवार से राजधानी सहित मध्य प्रदेश के कई जिलों में गरज-चमक के साथ बौछारें पडऩे का सिलसिला शुरू हो सकता है। 18-19 मई को पूरे मध्य प्रदेश में तेज हवाएं चलने के साथ बरसात हो सकती है।   वरिष्ठ मौसम वैज्ञानिक पीके साहा ने जानकारी देते हुए बताया कि वर्तमान में पाकिस्तान पर एक ऊपरी हवा का चक्रवात बना हुआ है। इस चक्रवात से उत्तरप्रदेश तक एक द्रोणिका लाइन (ट्रफ) बनी हुई है। विदर्भ पर भी एक ऊपरी हवा का चक्रवात बना हुआ है। साथ ही अरब सागर में उठ रहे तूफान के कारण मची हलचल से वातावरण में लगातार मिल रही नमी से शनिवार से राजधानी सहित ग्वालियर, चंबल, संभाग के जिलों में कहीं-कहीं गरज-चमक के साथ बारिश होने के आसार हैं।

Dakhal News

Dakhal News 15 May 2021


bhopal,8419 new cases ,corona revealed,MP, 74 people died

भोपाल। मध्यप्रदेश में कोरोना के नये मामलों में लगातार कमी देखने को मिल रही है। यहां बीते 24 घंटों में कोरोना के 8419 नये मामले सामने आए हैं, जबकि 74 लोगों की मौत हुई है। इसके बाद राज्य में संक्रमितों की कुल संख्या 07 लाख, 08 हजार, 621 और मृतकों की संख्या 6753 हो गई है। यह जानकारी स्वास्थ्य विभाग द्वारा गुरुवार देर शाम जारी कोरोना से संबंधित हेल्थ बुलेटिन में दी गई। नये मामलों में इंदौर- 1577, भोपाल- 1196, ग्वालियर- 548, जबलपुर- 470, उज्जैन- 276, सागर- 252, खरगौन- 111, रतलाम- 305, रीवा- 232, बैतूल- 138, विदिशा- 98, धार- 126, सतना- 129, नरसिंहपुर- 148, होशंगाबाद- 87, बड़वानी- 25, शिवपुरी- 225, कटनी- 96, शहडोल- 131, बालाघाट- 147, झाबुआ- 20, सीहोर- 89, छिंदवाड़ा- 36, राजगढ़- 96, रायसेन- 117, मुरैना- 54, नीमच- 52, मंदसौर- 131, देवास- 73, दमोह- 130, शाजापुर- 57, छतरपुर- 65, अनूपपुर- 111, सिंगरौली- 120, सिवनी- 71, सीधी- 132, टीकमगढ़- 79, दतिया-84, गुना- 22, खंडवा- 16, पन्ना- 92, उमरिया- 75, हरदा- 71, मंडला- 71, अलिराजपुर- 08, डिंडौरी- 36, अशोकनगर-32, श्योपुर- 49, भिंड- 16, बुरहानपुर- 14, आगरमालवा- 47, निवाड़ी- 36 मरीज मिले हैं। आज प्रदेश के सभी 52 जिलों में कोरोना के प्रकरण पाये गए।बुलेटिन के अनुसार, आज प्रदेशभर में 66,206 सेम्पलों की जांच रिपोर्ट प्राप्त हुई। इनमें 8419 पॉजिटिव और 57,787 रिपोर्ट निगेटिव आईं, जबकि 285 सेम्पल रिजेक्ट हुए। पाजिटिव प्रकरणों का प्रतिशत 12.7 रहा। इसके बाद राज्य में संक्रमित मरीजों की कुल संख्या बढक़र 07,08, 621 हो गई है। इनमें सबसे अधिक इंदौर में 133284, भोपाल- 109742, ग्वालियर- 50045, जबलपुर- 45671, उज्जैन- 16569, सागर- 14129, खरगौन- 12729, रतलाम- 15385, रीवा- 14355, बैतूल- 11569, विदिशा- 10998, धार- 11409, सतना- 10987, नरसिंहपुर- 10311, बड़वानी- 8056, होशंगाबाद- 9671, शिवपुरी- 11110, कटनी- 8699, बालाघाट- 8147, शहडोल- 9065, छिंदवाड़ा- 6297, झाबुआ- 7495, सिहोर- 9041, राजगढ़- 7708, रायसेन- 8200, नीमच- 7276, मुरैना- 7603, मंदसौर- 7636, देवास- 6921, शाजापुर- 5743, दमोह- 6827, छतरपुर- 7136, अनूपपुर- 7832, सिवनी- 6125, सिंगरौली- 7851, सीधी- 8079, टीकमगढ़- 6503, दतिया- 6505, खंडवा- 3925, गुना- 4725, पन्ना- 6503, उमरिया- 5449, हरदा- 4700, मंडला- 4792, अलिराजपुर- 3397, डिंडौरी- 3976, अशोकनगर- 3335, श्योपुर- 3573, भिंड- 2766, बुरहानपुर- 2447, आगरमालवा- 2921, निवाड़ी- 3403 मरीज शामिल हैं।राज्य में आज कोरोना से 74 मरीजों की मौत की पुष्टि हुई है। मृतकों में इंदौर में नौ, भोपाल, जबलपुर और रतलाम में पांच, ग्वालियर में आठ, खरगौन, कटनी, टीकमगढ़, शाजापुर और हरदा में तीन, उज्जैन, रीवा, सागर, बैतूल, शिवपुरी, रायसेन, सीधी, पन्ना, निवाड़ी और अलिराजपुर में दो, धार, सतना, नरसिंहपुर, बालाघाट, बड़वानी, डिंडौरी और भिंड जिले के एक-एक मरीज शामिल है। इसके बाद राज्य में मृतकों की संख्या बढक़र 6753 हो गई है।    मृतकों में सबसे अधिक इंदौर- 1236, भोपाल- 822, ग्वालियर- 456, जबलपुर- 503, उज्जैन- 156, सागर- 201, खरगौन- 199, रतलाम- 249, रीवा- 67, बैतूल- 156, विदिशा- 151, धार- 119, सतना- 88, नरसिंहपुर- 61, बड़वानी- 63, होशंगाबाद- 97, शिवपुरी- 63, कटनी- 74, बालाघाट- 49, शहडोल- 103, छिंदवाड़ा- 113, झाबुआ- 43, सिहोर- 49, राजगढ़- 110, रायसेन- 136, नीमच- 84, मुरैना- 55, मंदसौर- 64, देवास- 42, शाजापुर- 49, दमोह- 115, छतरपुर- 73, अनूपपुर- 61, सिवनी- 25, सिंगरौली- 63, सीधी- 55, टीकमगढ़- 85, दतिया- 71, खंडवा- 88, गुना- 44, पन्ना- 35, उमरिया- 52, हरदा- 62, मंडला- 16, अलिराजपुर- 44, डिंडौरी- 21, अशोकनगर- 21, श्योपुर- 48, भिंड- 19, बुरहानपुर- 35, आगरमालवा- 29, निवाड़ी- 32 व्यक्ति शामिल है।बुलेटिन के अनुसार, राज्य में अब तक 5,93,752 मरीज कोरोना को मात देकर अपने घर पहुंच चुके हैं। इनमें 10157 मरीज गुरुवार को स्वस्थ हुए। अब यहां कोरोना के सक्रिय प्रकरण बढक़र 108116 हो गए हैं। बता दें कि मप्र में फरवरी के दूसरे सप्ताह में सक्रिय प्रकरण एक हजार के नीचे पहुंच गए थे, लेकिन स्वस्थ होने वाले मरीजों की तुलना में नये मामले अधिक संख्या में आने के कारण यहां सक्रिय प्रकरण लगातार बढ़ते जा रहे हैं।

Dakhal News

Dakhal News 13 May 2021


bhopal,8419 new cases ,corona revealed,MP, 74 people died

भोपाल। मध्यप्रदेश में कोरोना के नये मामलों में लगातार कमी देखने को मिल रही है। यहां बीते 24 घंटों में कोरोना के 8419 नये मामले सामने आए हैं, जबकि 74 लोगों की मौत हुई है। इसके बाद राज्य में संक्रमितों की कुल संख्या 07 लाख, 08 हजार, 621 और मृतकों की संख्या 6753 हो गई है। यह जानकारी स्वास्थ्य विभाग द्वारा गुरुवार देर शाम जारी कोरोना से संबंधित हेल्थ बुलेटिन में दी गई। नये मामलों में इंदौर- 1577, भोपाल- 1196, ग्वालियर- 548, जबलपुर- 470, उज्जैन- 276, सागर- 252, खरगौन- 111, रतलाम- 305, रीवा- 232, बैतूल- 138, विदिशा- 98, धार- 126, सतना- 129, नरसिंहपुर- 148, होशंगाबाद- 87, बड़वानी- 25, शिवपुरी- 225, कटनी- 96, शहडोल- 131, बालाघाट- 147, झाबुआ- 20, सीहोर- 89, छिंदवाड़ा- 36, राजगढ़- 96, रायसेन- 117, मुरैना- 54, नीमच- 52, मंदसौर- 131, देवास- 73, दमोह- 130, शाजापुर- 57, छतरपुर- 65, अनूपपुर- 111, सिंगरौली- 120, सिवनी- 71, सीधी- 132, टीकमगढ़- 79, दतिया-84, गुना- 22, खंडवा- 16, पन्ना- 92, उमरिया- 75, हरदा- 71, मंडला- 71, अलिराजपुर- 08, डिंडौरी- 36, अशोकनगर-32, श्योपुर- 49, भिंड- 16, बुरहानपुर- 14, आगरमालवा- 47, निवाड़ी- 36 मरीज मिले हैं। आज प्रदेश के सभी 52 जिलों में कोरोना के प्रकरण पाये गए।बुलेटिन के अनुसार, आज प्रदेशभर में 66,206 सेम्पलों की जांच रिपोर्ट प्राप्त हुई। इनमें 8419 पॉजिटिव और 57,787 रिपोर्ट निगेटिव आईं, जबकि 285 सेम्पल रिजेक्ट हुए। पाजिटिव प्रकरणों का प्रतिशत 12.7 रहा। इसके बाद राज्य में संक्रमित मरीजों की कुल संख्या बढक़र 07,08, 621 हो गई है। इनमें सबसे अधिक इंदौर में 133284, भोपाल- 109742, ग्वालियर- 50045, जबलपुर- 45671, उज्जैन- 16569, सागर- 14129, खरगौन- 12729, रतलाम- 15385, रीवा- 14355, बैतूल- 11569, विदिशा- 10998, धार- 11409, सतना- 10987, नरसिंहपुर- 10311, बड़वानी- 8056, होशंगाबाद- 9671, शिवपुरी- 11110, कटनी- 8699, बालाघाट- 8147, शहडोल- 9065, छिंदवाड़ा- 6297, झाबुआ- 7495, सिहोर- 9041, राजगढ़- 7708, रायसेन- 8200, नीमच- 7276, मुरैना- 7603, मंदसौर- 7636, देवास- 6921, शाजापुर- 5743, दमोह- 6827, छतरपुर- 7136, अनूपपुर- 7832, सिवनी- 6125, सिंगरौली- 7851, सीधी- 8079, टीकमगढ़- 6503, दतिया- 6505, खंडवा- 3925, गुना- 4725, पन्ना- 6503, उमरिया- 5449, हरदा- 4700, मंडला- 4792, अलिराजपुर- 3397, डिंडौरी- 3976, अशोकनगर- 3335, श्योपुर- 3573, भिंड- 2766, बुरहानपुर- 2447, आगरमालवा- 2921, निवाड़ी- 3403 मरीज शामिल हैं।राज्य में आज कोरोना से 74 मरीजों की मौत की पुष्टि हुई है। मृतकों में इंदौर में नौ, भोपाल, जबलपुर और रतलाम में पांच, ग्वालियर में आठ, खरगौन, कटनी, टीकमगढ़, शाजापुर और हरदा में तीन, उज्जैन, रीवा, सागर, बैतूल, शिवपुरी, रायसेन, सीधी, पन्ना, निवाड़ी और अलिराजपुर में दो, धार, सतना, नरसिंहपुर, बालाघाट, बड़वानी, डिंडौरी और भिंड जिले के एक-एक मरीज शामिल है। इसके बाद राज्य में मृतकों की संख्या बढक़र 6753 हो गई है।    मृतकों में सबसे अधिक इंदौर- 1236, भोपाल- 822, ग्वालियर- 456, जबलपुर- 503, उज्जैन- 156, सागर- 201, खरगौन- 199, रतलाम- 249, रीवा- 67, बैतूल- 156, विदिशा- 151, धार- 119, सतना- 88, नरसिंहपुर- 61, बड़वानी- 63, होशंगाबाद- 97, शिवपुरी- 63, कटनी- 74, बालाघाट- 49, शहडोल- 103, छिंदवाड़ा- 113, झाबुआ- 43, सिहोर- 49, राजगढ़- 110, रायसेन- 136, नीमच- 84, मुरैना- 55, मंदसौर- 64, देवास- 42, शाजापुर- 49, दमोह- 115, छतरपुर- 73, अनूपपुर- 61, सिवनी- 25, सिंगरौली- 63, सीधी- 55, टीकमगढ़- 85, दतिया- 71, खंडवा- 88, गुना- 44, पन्ना- 35, उमरिया- 52, हरदा- 62, मंडला- 16, अलिराजपुर- 44, डिंडौरी- 21, अशोकनगर- 21, श्योपुर- 48, भिंड- 19, बुरहानपुर- 35, आगरमालवा- 29, निवाड़ी- 32 व्यक्ति शामिल है।बुलेटिन के अनुसार, राज्य में अब तक 5,93,752 मरीज कोरोना को मात देकर अपने घर पहुंच चुके हैं। इनमें 10157 मरीज गुरुवार को स्वस्थ हुए। अब यहां कोरोना के सक्रिय प्रकरण बढक़र 108116 हो गए हैं। बता दें कि मप्र में फरवरी के दूसरे सप्ताह में सक्रिय प्रकरण एक हजार के नीचे पहुंच गए थे, लेकिन स्वस्थ होने वाले मरीजों की तुलना में नये मामले अधिक संख्या में आने के कारण यहां सक्रिय प्रकरण लगातार बढ़ते जा रहे हैं।

Dakhal News

Dakhal News 13 May 2021


bhopal,8419 new cases ,corona revealed,MP, 74 people died

भोपाल। मध्यप्रदेश में कोरोना के नये मामलों में लगातार कमी देखने को मिल रही है। यहां बीते 24 घंटों में कोरोना के 8419 नये मामले सामने आए हैं, जबकि 74 लोगों की मौत हुई है। इसके बाद राज्य में संक्रमितों की कुल संख्या 07 लाख, 08 हजार, 621 और मृतकों की संख्या 6753 हो गई है। यह जानकारी स्वास्थ्य विभाग द्वारा गुरुवार देर शाम जारी कोरोना से संबंधित हेल्थ बुलेटिन में दी गई। नये मामलों में इंदौर- 1577, भोपाल- 1196, ग्वालियर- 548, जबलपुर- 470, उज्जैन- 276, सागर- 252, खरगौन- 111, रतलाम- 305, रीवा- 232, बैतूल- 138, विदिशा- 98, धार- 126, सतना- 129, नरसिंहपुर- 148, होशंगाबाद- 87, बड़वानी- 25, शिवपुरी- 225, कटनी- 96, शहडोल- 131, बालाघाट- 147, झाबुआ- 20, सीहोर- 89, छिंदवाड़ा- 36, राजगढ़- 96, रायसेन- 117, मुरैना- 54, नीमच- 52, मंदसौर- 131, देवास- 73, दमोह- 130, शाजापुर- 57, छतरपुर- 65, अनूपपुर- 111, सिंगरौली- 120, सिवनी- 71, सीधी- 132, टीकमगढ़- 79, दतिया-84, गुना- 22, खंडवा- 16, पन्ना- 92, उमरिया- 75, हरदा- 71, मंडला- 71, अलिराजपुर- 08, डिंडौरी- 36, अशोकनगर-32, श्योपुर- 49, भिंड- 16, बुरहानपुर- 14, आगरमालवा- 47, निवाड़ी- 36 मरीज मिले हैं। आज प्रदेश के सभी 52 जिलों में कोरोना के प्रकरण पाये गए।बुलेटिन के अनुसार, आज प्रदेशभर में 66,206 सेम्पलों की जांच रिपोर्ट प्राप्त हुई। इनमें 8419 पॉजिटिव और 57,787 रिपोर्ट निगेटिव आईं, जबकि 285 सेम्पल रिजेक्ट हुए। पाजिटिव प्रकरणों का प्रतिशत 12.7 रहा। इसके बाद राज्य में संक्रमित मरीजों की कुल संख्या बढक़र 07,08, 621 हो गई है। इनमें सबसे अधिक इंदौर में 133284, भोपाल- 109742, ग्वालियर- 50045, जबलपुर- 45671, उज्जैन- 16569, सागर- 14129, खरगौन- 12729, रतलाम- 15385, रीवा- 14355, बैतूल- 11569, विदिशा- 10998, धार- 11409, सतना- 10987, नरसिंहपुर- 10311, बड़वानी- 8056, होशंगाबाद- 9671, शिवपुरी- 11110, कटनी- 8699, बालाघाट- 8147, शहडोल- 9065, छिंदवाड़ा- 6297, झाबुआ- 7495, सिहोर- 9041, राजगढ़- 7708, रायसेन- 8200, नीमच- 7276, मुरैना- 7603, मंदसौर- 7636, देवास- 6921, शाजापुर- 5743, दमोह- 6827, छतरपुर- 7136, अनूपपुर- 7832, सिवनी- 6125, सिंगरौली- 7851, सीधी- 8079, टीकमगढ़- 6503, दतिया- 6505, खंडवा- 3925, गुना- 4725, पन्ना- 6503, उमरिया- 5449, हरदा- 4700, मंडला- 4792, अलिराजपुर- 3397, डिंडौरी- 3976, अशोकनगर- 3335, श्योपुर- 3573, भिंड- 2766, बुरहानपुर- 2447, आगरमालवा- 2921, निवाड़ी- 3403 मरीज शामिल हैं।राज्य में आज कोरोना से 74 मरीजों की मौत की पुष्टि हुई है। मृतकों में इंदौर में नौ, भोपाल, जबलपुर और रतलाम में पांच, ग्वालियर में आठ, खरगौन, कटनी, टीकमगढ़, शाजापुर और हरदा में तीन, उज्जैन, रीवा, सागर, बैतूल, शिवपुरी, रायसेन, सीधी, पन्ना, निवाड़ी और अलिराजपुर में दो, धार, सतना, नरसिंहपुर, बालाघाट, बड़वानी, डिंडौरी और भिंड जिले के एक-एक मरीज शामिल है। इसके बाद राज्य में मृतकों की संख्या बढक़र 6753 हो गई है।    मृतकों में सबसे अधिक इंदौर- 1236, भोपाल- 822, ग्वालियर- 456, जबलपुर- 503, उज्जैन- 156, सागर- 201, खरगौन- 199, रतलाम- 249, रीवा- 67, बैतूल- 156, विदिशा- 151, धार- 119, सतना- 88, नरसिंहपुर- 61, बड़वानी- 63, होशंगाबाद- 97, शिवपुरी- 63, कटनी- 74, बालाघाट- 49, शहडोल- 103, छिंदवाड़ा- 113, झाबुआ- 43, सिहोर- 49, राजगढ़- 110, रायसेन- 136, नीमच- 84, मुरैना- 55, मंदसौर- 64, देवास- 42, शाजापुर- 49, दमोह- 115, छतरपुर- 73, अनूपपुर- 61, सिवनी- 25, सिंगरौली- 63, सीधी- 55, टीकमगढ़- 85, दतिया- 71, खंडवा- 88, गुना- 44, पन्ना- 35, उमरिया- 52, हरदा- 62, मंडला- 16, अलिराजपुर- 44, डिंडौरी- 21, अशोकनगर- 21, श्योपुर- 48, भिंड- 19, बुरहानपुर- 35, आगरमालवा- 29, निवाड़ी- 32 व्यक्ति शामिल है।बुलेटिन के अनुसार, राज्य में अब तक 5,93,752 मरीज कोरोना को मात देकर अपने घर पहुंच चुके हैं। इनमें 10157 मरीज गुरुवार को स्वस्थ हुए। अब यहां कोरोना के सक्रिय प्रकरण बढक़र 108116 हो गए हैं। बता दें कि मप्र में फरवरी के दूसरे सप्ताह में सक्रिय प्रकरण एक हजार के नीचे पहुंच गए थे, लेकिन स्वस्थ होने वाले मरीजों की तुलना में नये मामले अधिक संख्या में आने के कारण यहां सक्रिय प्रकरण लगातार बढ़ते जा रहे हैं।

Dakhal News

Dakhal News 13 May 2021


ratlam,Jabalpur-Indore ,Special Express ,canceled until further order

रतलाम।  पश्चिम रेलवे रतलाम मंडल के इंदौर से जबलपुर के मध्य चलने वाली गाड़ी संख्या 02292/02291 जबलपुर-इंदौर-जबलपुर स्पेशल एक्सप्रेस अगले आदेश तक निरस्त रहेगी।    मंडल रेल प्रवक्ता जितेन्द्र कुमार जयंत ने बताया कि वर्तमान परिस्थितियों में कोरोना संक्रमण के कारण गाडियों में यात्रियों  की कम संख्या को देखते हुए कई गाडियों को निरस्त किया गया है। इसी क्रम में गाड़ी संख्या 02292/02291 जबलपुर इंदौर जबलपुर स्पेशल एक्सप्रेस को अगले आदेश तक निरस्त  किया गया है। गाड़ी संख्या 02292 जबलपुर इंदौर स्पेशल एक्सप्रेस 13 मई  से तथा गाड़ी संख्या 02291 इंदौर जबलपुर स्पेशल एक्सप्रेस, 14 मई से अगले आदेश तक निरस्त रहेगी।   

Dakhal News

Dakhal News 12 May 2021


ratlam,Jabalpur-Indore ,Special Express ,canceled until further order

रतलाम।  पश्चिम रेलवे रतलाम मंडल के इंदौर से जबलपुर के मध्य चलने वाली गाड़ी संख्या 02292/02291 जबलपुर-इंदौर-जबलपुर स्पेशल एक्सप्रेस अगले आदेश तक निरस्त रहेगी।    मंडल रेल प्रवक्ता जितेन्द्र कुमार जयंत ने बताया कि वर्तमान परिस्थितियों में कोरोना संक्रमण के कारण गाडियों में यात्रियों  की कम संख्या को देखते हुए कई गाडियों को निरस्त किया गया है। इसी क्रम में गाड़ी संख्या 02292/02291 जबलपुर इंदौर जबलपुर स्पेशल एक्सप्रेस को अगले आदेश तक निरस्त  किया गया है। गाड़ी संख्या 02292 जबलपुर इंदौर स्पेशल एक्सप्रेस 13 मई  से तथा गाड़ी संख्या 02291 इंदौर जबलपुर स्पेशल एक्सप्रेस, 14 मई से अगले आदेश तक निरस्त रहेगी।   

Dakhal News

Dakhal News 12 May 2021


ratlam,Jabalpur-Indore ,Special Express ,canceled until further order

रतलाम।  पश्चिम रेलवे रतलाम मंडल के इंदौर से जबलपुर के मध्य चलने वाली गाड़ी संख्या 02292/02291 जबलपुर-इंदौर-जबलपुर स्पेशल एक्सप्रेस अगले आदेश तक निरस्त रहेगी।    मंडल रेल प्रवक्ता जितेन्द्र कुमार जयंत ने बताया कि वर्तमान परिस्थितियों में कोरोना संक्रमण के कारण गाडियों में यात्रियों  की कम संख्या को देखते हुए कई गाडियों को निरस्त किया गया है। इसी क्रम में गाड़ी संख्या 02292/02291 जबलपुर इंदौर जबलपुर स्पेशल एक्सप्रेस को अगले आदेश तक निरस्त  किया गया है। गाड़ी संख्या 02292 जबलपुर इंदौर स्पेशल एक्सप्रेस 13 मई  से तथा गाड़ी संख्या 02291 इंदौर जबलपुर स्पेशल एक्सप्रेस, 14 मई से अगले आदेश तक निरस्त रहेगी।   

Dakhal News

Dakhal News 12 May 2021


bhopal, Madhya Pradesh,Petrol prices ,exceed hundred , many cities

भोपाल। मध्‍य प्रदेश में बुधवार कई जगह पेट्रोल कीमतों ने 100 से ऊपर 102 रुपए की कीमत को भी पार कर लिया। राजधानी भोपाल सहित प्रदेश के बड़े शहरों इंदौर, जबलपुर और ग्‍वालियर में जहां प्रति लीटर पेट्रोल की कीमत 100 रुपये से अधिक है, वहीं राज्‍य के दो जिले शहडोल और अनूपपुर में पेट्रोल के दाम 102 रुपये से ऊपर पहुंच गया है।    इंडियन आयल कार्पोरेशन की वेबसाइट पर दिए बुधवार सुबह के आंकड़ों के अनुसार राजधानी भोपाल में पेट्रोल प्रति लीटर कीमत 100.08 रुपए और डीजल - 90.95 प्रति लीटर पर दिया जा रहा है। वहीं इंदौर में पेट्रोल के दाम 100 रुपये 16 पैसे प्रति लीटर हो गए हैं तो डीजल 91 रुपये चार पैसे प्रति लीटर पर पर है। इसी तरह से प्रदेश के बड़े महानगरों में ग्वालियर के दाम देखें तो पेट्रोल 100.04 प्रति लीटर और डीजल - 90.91 प्रति लीटर है। ऐसे ही प्रदेश की संस्‍कारधानी जबलपुर में भी पेट्रोल प्रति लीटर  100.12  और डीजल - 91.00 प्रति लीटर है।    उल्‍लेखनीय है कि प्रदेश के दो जिलों शहडोल और अनूपपुर में पेट्रोल के दाम 102 रुपये से ऊपर हैं। यह भाव मंगलवार रात 12 बजे से लागू हो गए थे। जबकि पेट्रो कीमतों ने अपना शतक मंगलवार को ही लगा दिया था। अब डीजल भी शतक से सिर्फ नौ रुपये दूर है।   उधर, प्रदेश के बाहर यदि देश के बड़े महानगरों की बात करें तो देश की राजधानी दिल्ली में पेट्रोल और डीजल के दाम 25-25 पैसे बढ़कर क्रमश: 92.05 रुपये और 82.61 रुपये प्रति लीटर पर पहुंचे हैं । यह पहली बार है कि राष्ट्रीय राजधानी में पेट्रोल 92 रुपये के पार निकला है। इसी तरह से कोलकाता में पहली बार पेट्रोल का मूल्य 92 रुपये प्रति लीटर व चेन्नई में 93 रुपये के पार निकल गया है। मुंबई में पेट्रोल 98.36 रुपये और डीजल भी 90 रुपये प्रति​ लीटर के करीब पहुंच गया है ।

Dakhal News

Dakhal News 12 May 2021


bhopal, Madhya Pradesh,Petrol prices ,exceed hundred , many cities

भोपाल। मध्‍य प्रदेश में बुधवार कई जगह पेट्रोल कीमतों ने 100 से ऊपर 102 रुपए की कीमत को भी पार कर लिया। राजधानी भोपाल सहित प्रदेश के बड़े शहरों इंदौर, जबलपुर और ग्‍वालियर में जहां प्रति लीटर पेट्रोल की कीमत 100 रुपये से अधिक है, वहीं राज्‍य के दो जिले शहडोल और अनूपपुर में पेट्रोल के दाम 102 रुपये से ऊपर पहुंच गया है।    इंडियन आयल कार्पोरेशन की वेबसाइट पर दिए बुधवार सुबह के आंकड़ों के अनुसार राजधानी भोपाल में पेट्रोल प्रति लीटर कीमत 100.08 रुपए और डीजल - 90.95 प्रति लीटर पर दिया जा रहा है। वहीं इंदौर में पेट्रोल के दाम 100 रुपये 16 पैसे प्रति लीटर हो गए हैं तो डीजल 91 रुपये चार पैसे प्रति लीटर पर पर है। इसी तरह से प्रदेश के बड़े महानगरों में ग्वालियर के दाम देखें तो पेट्रोल 100.04 प्रति लीटर और डीजल - 90.91 प्रति लीटर है। ऐसे ही प्रदेश की संस्‍कारधानी जबलपुर में भी पेट्रोल प्रति लीटर  100.12  और डीजल - 91.00 प्रति लीटर है।    उल्‍लेखनीय है कि प्रदेश के दो जिलों शहडोल और अनूपपुर में पेट्रोल के दाम 102 रुपये से ऊपर हैं। यह भाव मंगलवार रात 12 बजे से लागू हो गए थे। जबकि पेट्रो कीमतों ने अपना शतक मंगलवार को ही लगा दिया था। अब डीजल भी शतक से सिर्फ नौ रुपये दूर है।   उधर, प्रदेश के बाहर यदि देश के बड़े महानगरों की बात करें तो देश की राजधानी दिल्ली में पेट्रोल और डीजल के दाम 25-25 पैसे बढ़कर क्रमश: 92.05 रुपये और 82.61 रुपये प्रति लीटर पर पहुंचे हैं । यह पहली बार है कि राष्ट्रीय राजधानी में पेट्रोल 92 रुपये के पार निकला है। इसी तरह से कोलकाता में पहली बार पेट्रोल का मूल्य 92 रुपये प्रति लीटर व चेन्नई में 93 रुपये के पार निकल गया है। मुंबई में पेट्रोल 98.36 रुपये और डीजल भी 90 रुपये प्रति​ लीटर के करीब पहुंच गया है ।

Dakhal News

Dakhal News 12 May 2021


bhopal, Madhya Pradesh,Petrol prices ,exceed hundred , many cities

भोपाल। मध्‍य प्रदेश में बुधवार कई जगह पेट्रोल कीमतों ने 100 से ऊपर 102 रुपए की कीमत को भी पार कर लिया। राजधानी भोपाल सहित प्रदेश के बड़े शहरों इंदौर, जबलपुर और ग्‍वालियर में जहां प्रति लीटर पेट्रोल की कीमत 100 रुपये से अधिक है, वहीं राज्‍य के दो जिले शहडोल और अनूपपुर में पेट्रोल के दाम 102 रुपये से ऊपर पहुंच गया है।    इंडियन आयल कार्पोरेशन की वेबसाइट पर दिए बुधवार सुबह के आंकड़ों के अनुसार राजधानी भोपाल में पेट्रोल प्रति लीटर कीमत 100.08 रुपए और डीजल - 90.95 प्रति लीटर पर दिया जा रहा है। वहीं इंदौर में पेट्रोल के दाम 100 रुपये 16 पैसे प्रति लीटर हो गए हैं तो डीजल 91 रुपये चार पैसे प्रति लीटर पर पर है। इसी तरह से प्रदेश के बड़े महानगरों में ग्वालियर के दाम देखें तो पेट्रोल 100.04 प्रति लीटर और डीजल - 90.91 प्रति लीटर है। ऐसे ही प्रदेश की संस्‍कारधानी जबलपुर में भी पेट्रोल प्रति लीटर  100.12  और डीजल - 91.00 प्रति लीटर है।    उल्‍लेखनीय है कि प्रदेश के दो जिलों शहडोल और अनूपपुर में पेट्रोल के दाम 102 रुपये से ऊपर हैं। यह भाव मंगलवार रात 12 बजे से लागू हो गए थे। जबकि पेट्रो कीमतों ने अपना शतक मंगलवार को ही लगा दिया था। अब डीजल भी शतक से सिर्फ नौ रुपये दूर है।   उधर, प्रदेश के बाहर यदि देश के बड़े महानगरों की बात करें तो देश की राजधानी दिल्ली में पेट्रोल और डीजल के दाम 25-25 पैसे बढ़कर क्रमश: 92.05 रुपये और 82.61 रुपये प्रति लीटर पर पहुंचे हैं । यह पहली बार है कि राष्ट्रीय राजधानी में पेट्रोल 92 रुपये के पार निकला है। इसी तरह से कोलकाता में पहली बार पेट्रोल का मूल्य 92 रुपये प्रति लीटर व चेन्नई में 93 रुपये के पार निकल गया है। मुंबई में पेट्रोल 98.36 रुपये और डीजल भी 90 रुपये प्रति​ लीटर के करीब पहुंच गया है ।

Dakhal News

Dakhal News 12 May 2021


jabalpur,Five patients died, negligence ,Galaxy hospital management

जबलपुर। शहर के एक अस्पताल में हाल ही में ऑक्सीजन सप्लाई बाधित होने के कारण पांच मरीजों की मौत हो गई थी। इस मामले की जांच के लिए कलेक्टर द्वारा गठित जांच समिति ने रविवार देर रात अपनी रिपोर्ट प्रस्तुत कर दी है। इसके अनुसार अस्पताल में मौतें प्रबंधन की लापरवाही की वजह से हुई थी।   प्रदेश के जबलपुर में ऑक्सीजन की कमी से 5 कोविड मरीजों की मौत गैलेक्सी अस्पताल की लापरवाही से हुई थी। काफी किरकिरी के बाद समिति ने रविवार देर रात अपना जांच प्रतिवेदन कलेक्टर को सौंप दिया। इसमें खुलासा हुआ है कि मरीजों को तड़पता छोड़ कर डॉक्टर और स्टाफ भाग गए थे। ऑक्सीजन सुपरवाइजर प्रशिक्षित नहीं था। जांच रिपोर्ट के बाद प्रभारी सीएमएचओ डॉक्टर संजय मिश्रा ने जिम्मेदार अस्पताल प्रबंधन के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने के आदेश दिए हैं। सीएमएचओ डॉक्टर मिश्रा ने अपने आदेश में अस्पताल में तत्काल कोविड के नए मरीजों की भर्ती पर रोक लगा दी है। वहीं अस्पताल में कोविड मरीजों के इलाज संबंधी अनुमति भी निरस्त कर दी गई है। वर्तमान में जो भी कोविड के मरीज भर्ती हैं, उनका उपचार करने के बाद डिस्चार्ज करने का आदेश दिया गया है।   गौरतलब है कि 22 अप्रैल की देर रात दो बजे के लगभग गैलेक्सी हॉस्पिटल में ऑक्सीजन समाप्त होने के चलते पांच मरीजों पटेलनगर निवासी अनिल शर्मा (49), विजयनगर निवासी देवेंद्र कुररिया (58), गाडरवारा नरसिंहपुर निवासी गोमती राय (65), नरसिंहपुर निवासी प्रमिला तिवारी (48) और छिंदवाड़ा निवासी आनंद शर्मा (47) की मौत हो गई थी। इस मामले में कलेक्टर कर्मवीर शर्मा ने संयुक्त कलेक्टर शाहिद खान की अगुवाई में जांच समिति गठित की थी। प्रशासन ने समिति गठित कर 24 घंटे में घटना की जांच करने की बात कही थी, लेकिन 16 दिन तक खामोश रहे। इस बीच अस्पताल की ओर से रेडक्रास को 25 लाख रुपये दान दे दिया गया। इस मामले में जब प्रशासन की किरकिरी होने लगी, तो 17वें दिन रविवार को किरकिरी के बाद देर रात रिपोर्ट प्रस्तुत की गई।

Dakhal News

Dakhal News 10 May 2021


indore,1627 new cases , corona found ,eight people also died

इंदौर। मध्यप्रदेश की आर्थिक राजधानी इंदौर में कोरोना का कहर जारी है। यहां 15 फरवरी के बाद से कोरोना के नये मरीजों की संख्या तेजी से बढ़ती जा रही है। इंदौर में बीते 24 घंटों में कोरोना के 1627 नये मामले सामने आए हैं, जबकि कोरोना से आठ लोगों की मौत भी हुई है। इसके बाद यहां संक्रमित मरीजों की कुल संख्या बढकऱ करीब 1,28,459 और मृतकों की संख्या 1212 हो गई है।   इंदौर के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. बी.एस सैत्या ने सोमवार को बताया कि एमजीएम मेडिकल कॉलेज द