विशेष


bhopal, Administrative service ,officials met, Chief Minister, demanding action

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से मंगलवार को उनके निवास पर प्रशासनिक सेवा संघ के पदाधिकारियों ने भेंट की। प्रशासनिक सेवा संघ के पदाधिकारियों ने मुख्यमंत्री चौहान से आग्रह किया कि छिंदवाड़ा में एस.डी.एम. सी.पी. पटेल पर किए गए हमले में लिप्त व्यक्तियों के विरूद्ध कठोर कार्रवाई की जाए।    पदाधिकारियों ने मुख्‍यमंत्री से यह भी आग्रह किया कि एसडीएम पटेल को आवश्यक सहायता एवं सुरक्षा प्रदान की जाए। साथ ही ऐसी घटनाओं को रोकने के लिए ए.डी.एम. और एस.डी.एम. को सशस्त्र गार्ड एवं समस्त कार्यपालक मजिस्ट्रेट के लिए गार्ड की व्यवस्था की जाए। प्रशासनिक अधिकारियों ने घटना के विरोध में 19 से 21 सितम्बर तक हड़ताल अवधि का सामूहिक अवकाश प्रदान करने का आग्रह किया। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि प्रशासनिक सेवा और कार्यपालक मजिस्ट्रेट का दायित्व निभा रहे लोगों की सुरक्षा व्यवस्था को सुदृढ़ करने के लिए आवश्यक कदम उठाए जाएंगे।

Dakhal News

Dakhal News 22 September 2020


bhopal, Shivraj and Scindia, apologize,lying  loan waiver ,farmers, Kamal Nath

भोपाल। प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस सरकार द्वारा किसानों की ऋण माफी पर पहले दिन से ही मुख्यमंत्री शिवराज सिंह और कांग्रेस छोडक़र भाजपा में गए ज्योतिरदित्य सिंधिया झूठ बोलते रहे हैं। इस झूठ की राजनीति का पर्दाफाश स्वयं शिवराज सरकार ने कल विधानसभा में कर दिया है और स्वीकार किया कि प्रदेश में प्रथम और द्वितीय चरण में कांग्रेस की सरकार ने 51 जिलों में 26 लाख 95 हजार किसानों का 11 हजार 6 सौ करोड़ रुपये से अधिक का ऋण माफ किया है। उन्होंने सीएम शिवराज और सिंधिया से माफी मांगने की मांग करते हुए कहा कि प्रदेश की जनता से सफेद झूठ बोलने और गुमराह करने की घृणित राजनीति के लिए शिवराज सिंह और ज्योतिरादित्य सिंधिया को तत्काल प्रदेश की जनता से माफी मांगना चाहिए ।    कमलनाथ ने मंगलवार को जारी अपने एक बयान में कहा कि ग्वालियर दौरे के दौरान मैंने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह को किसानों की ऋण माफी के मुद्दे पर खुली बहस करने की चुनौती दी थी। वे इस मुद्दे पर खुली बहस करते, उसके पहले ही उनकी सरकार ने विधानसभा में स्वीकार कर लिया कि कांग्रेस सरकार ने 26 लाख 95 हजार किसानों का ऋण माफ किया था और स्वीकृति की प्रकिया में शेष पांच लाख नब्बे हजार किसानों की संख्या को भी स्वीकार किया है, जिसकी स्वीकृति मेरी सरकार के समय की जा रही थी। पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि सदन के पटल पर जो सच्चाई भाजपा सरकार ने स्वीकार की है, इससे  शिवराज सिंह व भाजपा की झूठ की राजनीति का पर्दाफाश हो चुका है और मेरे द्वारा पहले दिन से ही किसान ऋण माफी की जो संख्या और सूची दी जा रही थी, वह अंतत: सच साबित हुई है।   कमलनाथ ने कहा कि मैं शुरू से ही यह कहता आ रहा हूं कि भाजपा चाहे जितना झूठ बोल ले लेकिन जो सच्चाई है, वह इस प्रदेश की जनता जानती है और हमारे किसान भाई इसके गवाह हैं। इसी सच्चाई को सदन में भाजपा सरकार के कृषि मंत्री ने लिखित में स्वीकार भी किया है। इस सच्चााई को स्वीकार करने के बाद शिवराज सरकार को शेष किसानों की ऋण माफी की प्रक्रिया को शीघ्र शुरू करना चाहिये। उन्होंने कहा कि विधानसभा में जो बहाना ऋण माफी योजना की समीक्षा का बनाया गया है, वह यह बताता है कि भाजपा और शिवराज सिंह किसानों के विरोधी हैं। कांग्रेस सरकार ने ऋण माफी की जो योजना बनाई थी, वह पूर्णत: विचार विमर्श के बाद ही तैयार की गई थी, जिसकी समीक्षा करने की कोई गुंजाइश नहीं बचती है। शिवराज सरकार कोई समय-सीमा भी बताने को तैयार नहीं है, इससे यह स्पष्ट होता है कि वे किसानों की कर्ज माफी करना ही नहीं चाहते।   पूर्व मुख्यमंत्री ने तंज कसते हुए कहा कि किसानों के साथ हमेशा से भाजपा छलावा करती रही है। उनके वोट पाने के लिए झूठे सब्जबाग दिखाकर भाजपा को किसानों को धोखा दिया है। यही कारण है कि मध्यप्रदेश में भाजपा सरकार में इतनी बड़ी संख्या में किसान आत्महत्या को मजबूर हुए। उन्होंने कहा कि हाल ही में संसद में गैर संवैधानिक तरीके से जो कृषि विधेयक पास हुए है, उससे भी स्पष्ट हो गया है कि भाजपा मूलत: किसान विरोधी है, वह किसानों का भला नहीं चाहती है।

Dakhal News

Dakhal News 22 September 2020


bhopal, Shivraj and Scindia, apologize,lying  loan waiver ,farmers, Kamal Nath

भोपाल। प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस सरकार द्वारा किसानों की ऋण माफी पर पहले दिन से ही मुख्यमंत्री शिवराज सिंह और कांग्रेस छोडक़र भाजपा में गए ज्योतिरदित्य सिंधिया झूठ बोलते रहे हैं। इस झूठ की राजनीति का पर्दाफाश स्वयं शिवराज सरकार ने कल विधानसभा में कर दिया है और स्वीकार किया कि प्रदेश में प्रथम और द्वितीय चरण में कांग्रेस की सरकार ने 51 जिलों में 26 लाख 95 हजार किसानों का 11 हजार 6 सौ करोड़ रुपये से अधिक का ऋण माफ किया है। उन्होंने सीएम शिवराज और सिंधिया से माफी मांगने की मांग करते हुए कहा कि प्रदेश की जनता से सफेद झूठ बोलने और गुमराह करने की घृणित राजनीति के लिए शिवराज सिंह और ज्योतिरादित्य सिंधिया को तत्काल प्रदेश की जनता से माफी मांगना चाहिए ।    कमलनाथ ने मंगलवार को जारी अपने एक बयान में कहा कि ग्वालियर दौरे के दौरान मैंने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह को किसानों की ऋण माफी के मुद्दे पर खुली बहस करने की चुनौती दी थी। वे इस मुद्दे पर खुली बहस करते, उसके पहले ही उनकी सरकार ने विधानसभा में स्वीकार कर लिया कि कांग्रेस सरकार ने 26 लाख 95 हजार किसानों का ऋण माफ किया था और स्वीकृति की प्रकिया में शेष पांच लाख नब्बे हजार किसानों की संख्या को भी स्वीकार किया है, जिसकी स्वीकृति मेरी सरकार के समय की जा रही थी। पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि सदन के पटल पर जो सच्चाई भाजपा सरकार ने स्वीकार की है, इससे  शिवराज सिंह व भाजपा की झूठ की राजनीति का पर्दाफाश हो चुका है और मेरे द्वारा पहले दिन से ही किसान ऋण माफी की जो संख्या और सूची दी जा रही थी, वह अंतत: सच साबित हुई है।   कमलनाथ ने कहा कि मैं शुरू से ही यह कहता आ रहा हूं कि भाजपा चाहे जितना झूठ बोल ले लेकिन जो सच्चाई है, वह इस प्रदेश की जनता जानती है और हमारे किसान भाई इसके गवाह हैं। इसी सच्चाई को सदन में भाजपा सरकार के कृषि मंत्री ने लिखित में स्वीकार भी किया है। इस सच्चााई को स्वीकार करने के बाद शिवराज सरकार को शेष किसानों की ऋण माफी की प्रक्रिया को शीघ्र शुरू करना चाहिये। उन्होंने कहा कि विधानसभा में जो बहाना ऋण माफी योजना की समीक्षा का बनाया गया है, वह यह बताता है कि भाजपा और शिवराज सिंह किसानों के विरोधी हैं। कांग्रेस सरकार ने ऋण माफी की जो योजना बनाई थी, वह पूर्णत: विचार विमर्श के बाद ही तैयार की गई थी, जिसकी समीक्षा करने की कोई गुंजाइश नहीं बचती है। शिवराज सरकार कोई समय-सीमा भी बताने को तैयार नहीं है, इससे यह स्पष्ट होता है कि वे किसानों की कर्ज माफी करना ही नहीं चाहते।   पूर्व मुख्यमंत्री ने तंज कसते हुए कहा कि किसानों के साथ हमेशा से भाजपा छलावा करती रही है। उनके वोट पाने के लिए झूठे सब्जबाग दिखाकर भाजपा को किसानों को धोखा दिया है। यही कारण है कि मध्यप्रदेश में भाजपा सरकार में इतनी बड़ी संख्या में किसान आत्महत्या को मजबूर हुए। उन्होंने कहा कि हाल ही में संसद में गैर संवैधानिक तरीके से जो कृषि विधेयक पास हुए है, उससे भी स्पष्ट हो गया है कि भाजपा मूलत: किसान विरोधी है, वह किसानों का भला नहीं चाहती है।

Dakhal News

Dakhal News 22 September 2020


bhopal, Narottam

भोपाल। किसानों से जुड़े बिल को लेकर विपक्ष विरोध का रूख अपनाए हुए है। विपक्ष का विरोध इस बिल को लेकर कम होने का नाम नहीं ले रहा। वहीं दूसरी ओर राज्यसभा से निलंबित आठ सांसदों का मामला भी तूल पकड़ चुका है। निलंबित सांसद सोमवार से संसद परिसर के गांधी प्रतिमा के पास धरने पर बैठे हुए हैं। राज्यसभा में कांग्रेस के हंगामे पर प्रदेश के गृृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कटाक्ष किया है।   मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने मंगलवार को मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि कृषि बिल संशोधन पर राज्यसभा में कांग्रेस सांसदों के हंगामे पर कहा कि संसद में पारित किए गए कृषि सुधार के नए कानून को लेकर एक बार फिर कांग्रेस का दोहरा चरित्र सामने आया है, ऐसा ही जीएसटी के समय में भी था। इस संबंध में कपिल सिब्बल के भाषण का वायरल हो रहा वीडियो इसका स्पष्ट उदाहरण है। उन्होंने कहा कि पीएम मोदी ने स्पष्ट कहा है कि किसानों की आय दोगुनी करनी है। देश की सबसे बड़ी आबादी किसान की है, पीएम ने जो कदम उठाया है वो राष्ट्रहित में है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी किसानों की आय बढ़ाने के लिए कृतसंकल्पित हैं।   सचिन और प्रियंका पर साधा निशाना इस दौरान उपचुनाव में कांग्रेस के लिए सचिन पायलट और प्रियंका गांधी के ग्वालियर- चंबल में प्रचार में उतरने पर मंत्री मिश्रा ने कहा कि कांग्रेस किसी को भी बुला सकती है। जनता समझ चुकी है कि कांग्रेस के पास ना नेता है और न नीयत।   छिंदवाड़ा में एसडीएम के साथ हुई घटना दुर्भाग्यपूर्ण छिंदवाड़ा में एसडीएम के साथ हुई घटना के बाद एसडीएम और तहसीलदार की हड़ताल पर गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि एसडीएम के साथ जो हुआ दुर्भाग्यपूर्ण था, कांग्रेस को इस तरह के दुराग्रह से बचना चाहिए। कांग्रेस पर तंज कसते हुए उन्होंने कहा कि आज विपक्ष में आने पर कांग्रेस की हालत खिसियानी बिल्ली खंभा नोचे जैसी हो गई है। कांग्रेस के लोगों को ऐसा अमर्यादित आचरण नहीं करना चाहिए।  

Dakhal News

Dakhal News 22 September 2020


bhopal,Center better, than other states, MP Corona case,Shivraj

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सोमवार को विधानसभा में प्रदेश में कोरोना की स्थिति की जानकारी देते हुए बताया कि मध्यप्रदेश में कोरोना के विरूद्ध जंग में युद्ध स्तर पर कार्य हुआ है, जिसके फलस्वरूप आज की तारीख में मध्यप्रदेश में कोविड संक्रमित मरीजों के स्वस्थ होने की दर 77.30 हो गयी है।    मुख्यमंत्री ने बताया कि 1 मई को यह दर मात्र 19.03 थी। प्रदेश में 23 मार्च 2020 को टेस्टिंग क्षमता मात्र 300 टेस्ट प्रतिदिन थी, इसमें से सिर्फ 60 टेस्ट रोजाना हो पाते थे। अब प्रदेश की टेस्टिंग क्षमता 29 हजार 780 टेस्ट प्रतिदिन है। यहीं नही 3 लैब से बढ़कर हम 78 क्रियाशील लैब स्थापित कर चुके हैं। प्रदेश में 852 फीवर क्लीनिक कार्य कर रहे हैं। फीवर क्लीनिक में सैम्पल कलेक्शन की व्यवस्था की गयी है। उन्‍होंने कोरोना के विरूद्ध निणार्यक जंग में विपक्ष के सहयोग की भी अपेक्षा की। चौहान ने कहा कि हम सब मिलकर इस महामारी से लड़ें और इसे परास्त करें। वैसे तो मध्यप्रदेश की स्थिति भारत के कई राज्यों से बेहतर है, फिर भी सभी से अपेक्षा है कि सावधानियों का पालन करें, सतर्क रहें, घरों से बहुत आवश्यक कार्य पर ही बाहर निकलें और प्रोटोकॉल के पालन में सरकार का सहयोग करें। मुख्यमंत्री कोविड योद्धा कल्याण योजना में 20 प्रकरणों में योद्धाओं के परिवारों को आर्थिक सहायता राशि दी गई।   मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में लॉकडाउन से लेकर अनलॉक के पिछले 6 माह में संक्रमण को काफी हद तक नियंत्रित करने में सफलता मिली है। प्रदेश में इस समय करीब 22 हजार एक्टिव केस हैं, जो कुल प्रकरणों का 20 प्रतिशत है। इन प्रकरणों के लिहाज से मध्यप्रदेश देश में 16वें स्थान पर है। प्रदेश की स्थिति में निरंतर सुधार हुआ है। अस्पतालों में बिस्तर क्षमता भी बढ़ाई गयी। सामान्य बैड जो 2428 थे, अब 24 हजार 560 हैं। इसी तरह आईसीयू और आईसोलेशन बैड भी बढ़े हैं। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि वे गत 6 माह से प्रतिदिन कोराना नियंत्रण की समीक्षा कर रहे हैं।    चौहान ने बताया कि मध्यप्रदेश में 20 टन ऑक्सीजन की आपूर्ति महाराष्ट्र से है। प्रदेश में 50 टन ऑक्सीजन उपलब्ध थी, जिसे बढ़ाकर 120 टन किया गया है। यह क्षमता 30 सितम्बर तक 150 टन हो जायेगी। भारत सरकार के सहयोग से प्रतिदिन 50 टन अतिरिक्त ऑक्सीजन उपलब्ध हुई है। होशंगाबाद जिले में 200 टन क्षमता का ऑक्सीजन संयंत्र लगाने की कार्यवाही प्रारंभ की गई है।   उन्‍होंने बताया कि जन-जागरूकता के लिये प्रदेश में जुलाई और अगस्त माह में 'किल-कोरोना' महाअभियान दो चरणों में चलाया गया। इसके पश्चात 'सहयोग से सुरक्षा' अभियान शुरू किया गया, जिसके अंतर्गत 1. सुरक्षा उपायों को बढ़ावा देने, 2. परिवर्तित व्यवहार को स्थायी बनाने, 3. भ्रामक जानकारी का खण्डन करने, 4. जनसहयोग प्राप्त करने और 5. संक्रमित व्यक्ति को भेदभाव से बचाने के पाँच मंत्रों को अपनाकर उन पर अमल किया जा रहा है। पूरे प्रदेश में 'एक मास्क-अनेक जिंदगी अभियान' में मास्क वितरण का कार्य किया जाता है। प्रदेश के करीब 53 प्रतिशत रोगी घरों में होम आइसोलेशन के अंतर्गत उपचार ले रहें हैं।    मुख्‍यमंत्री ने कहा कि इंदौर में 27 अगस्त 2020 को 237 करोड़ लागत से 402 बिस्तर क्षमता का सुपर स्पेशलिटी अस्पताल का लोकार्पण किया गया है। वैकल्पिक चिकित्सा का उपयोग करते हुए, करीब 4 करोड़ लोगों तक आयुर्वेदिक, होम्योपैथिक और यूनानी दवाओं के साथ ही आयुर्वेदिक काढ़ा पहुँचाने का कार्य किया गया है। चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश सरकार की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने की इस पहल की केन्द्र सरकार ने भी सराहना की है। प्रदेश में 362 आयुष वैलनेस सेंटर और 45 नये आयुष ग्रामों को मंजूरी दी गयी है। आर्थिक गतिविधियों और आगामी त्यौहारों को ध्यान में रखते हुए राज्य सरकार ने समय-समय पर गाइड लाइन जारी की हैं। परस्पर दूरी रखने, मास्क के उपयोग और बार-बार साबुन से हाथ धोने की सलाह लोगों को विभिन्न माध्यमों से निरंतर दी जा रही है, ताकि संक्रमण को पूरी तरह रोका जा सके।

Dakhal News

Dakhal News 21 September 2020


bhopal,Center better, than other states, MP Corona case,Shivraj

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सोमवार को विधानसभा में प्रदेश में कोरोना की स्थिति की जानकारी देते हुए बताया कि मध्यप्रदेश में कोरोना के विरूद्ध जंग में युद्ध स्तर पर कार्य हुआ है, जिसके फलस्वरूप आज की तारीख में मध्यप्रदेश में कोविड संक्रमित मरीजों के स्वस्थ होने की दर 77.30 हो गयी है।    मुख्यमंत्री ने बताया कि 1 मई को यह दर मात्र 19.03 थी। प्रदेश में 23 मार्च 2020 को टेस्टिंग क्षमता मात्र 300 टेस्ट प्रतिदिन थी, इसमें से सिर्फ 60 टेस्ट रोजाना हो पाते थे। अब प्रदेश की टेस्टिंग क्षमता 29 हजार 780 टेस्ट प्रतिदिन है। यहीं नही 3 लैब से बढ़कर हम 78 क्रियाशील लैब स्थापित कर चुके हैं। प्रदेश में 852 फीवर क्लीनिक कार्य कर रहे हैं। फीवर क्लीनिक में सैम्पल कलेक्शन की व्यवस्था की गयी है। उन्‍होंने कोरोना के विरूद्ध निणार्यक जंग में विपक्ष के सहयोग की भी अपेक्षा की। चौहान ने कहा कि हम सब मिलकर इस महामारी से लड़ें और इसे परास्त करें। वैसे तो मध्यप्रदेश की स्थिति भारत के कई राज्यों से बेहतर है, फिर भी सभी से अपेक्षा है कि सावधानियों का पालन करें, सतर्क रहें, घरों से बहुत आवश्यक कार्य पर ही बाहर निकलें और प्रोटोकॉल के पालन में सरकार का सहयोग करें। मुख्यमंत्री कोविड योद्धा कल्याण योजना में 20 प्रकरणों में योद्धाओं के परिवारों को आर्थिक सहायता राशि दी गई।   मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में लॉकडाउन से लेकर अनलॉक के पिछले 6 माह में संक्रमण को काफी हद तक नियंत्रित करने में सफलता मिली है। प्रदेश में इस समय करीब 22 हजार एक्टिव केस हैं, जो कुल प्रकरणों का 20 प्रतिशत है। इन प्रकरणों के लिहाज से मध्यप्रदेश देश में 16वें स्थान पर है। प्रदेश की स्थिति में निरंतर सुधार हुआ है। अस्पतालों में बिस्तर क्षमता भी बढ़ाई गयी। सामान्य बैड जो 2428 थे, अब 24 हजार 560 हैं। इसी तरह आईसीयू और आईसोलेशन बैड भी बढ़े हैं। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि वे गत 6 माह से प्रतिदिन कोराना नियंत्रण की समीक्षा कर रहे हैं।    चौहान ने बताया कि मध्यप्रदेश में 20 टन ऑक्सीजन की आपूर्ति महाराष्ट्र से है। प्रदेश में 50 टन ऑक्सीजन उपलब्ध थी, जिसे बढ़ाकर 120 टन किया गया है। यह क्षमता 30 सितम्बर तक 150 टन हो जायेगी। भारत सरकार के सहयोग से प्रतिदिन 50 टन अतिरिक्त ऑक्सीजन उपलब्ध हुई है। होशंगाबाद जिले में 200 टन क्षमता का ऑक्सीजन संयंत्र लगाने की कार्यवाही प्रारंभ की गई है।   उन्‍होंने बताया कि जन-जागरूकता के लिये प्रदेश में जुलाई और अगस्त माह में 'किल-कोरोना' महाअभियान दो चरणों में चलाया गया। इसके पश्चात 'सहयोग से सुरक्षा' अभियान शुरू किया गया, जिसके अंतर्गत 1. सुरक्षा उपायों को बढ़ावा देने, 2. परिवर्तित व्यवहार को स्थायी बनाने, 3. भ्रामक जानकारी का खण्डन करने, 4. जनसहयोग प्राप्त करने और 5. संक्रमित व्यक्ति को भेदभाव से बचाने के पाँच मंत्रों को अपनाकर उन पर अमल किया जा रहा है। पूरे प्रदेश में 'एक मास्क-अनेक जिंदगी अभियान' में मास्क वितरण का कार्य किया जाता है। प्रदेश के करीब 53 प्रतिशत रोगी घरों में होम आइसोलेशन के अंतर्गत उपचार ले रहें हैं।    मुख्‍यमंत्री ने कहा कि इंदौर में 27 अगस्त 2020 को 237 करोड़ लागत से 402 बिस्तर क्षमता का सुपर स्पेशलिटी अस्पताल का लोकार्पण किया गया है। वैकल्पिक चिकित्सा का उपयोग करते हुए, करीब 4 करोड़ लोगों तक आयुर्वेदिक, होम्योपैथिक और यूनानी दवाओं के साथ ही आयुर्वेदिक काढ़ा पहुँचाने का कार्य किया गया है। चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश सरकार की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने की इस पहल की केन्द्र सरकार ने भी सराहना की है। प्रदेश में 362 आयुष वैलनेस सेंटर और 45 नये आयुष ग्रामों को मंजूरी दी गयी है। आर्थिक गतिविधियों और आगामी त्यौहारों को ध्यान में रखते हुए राज्य सरकार ने समय-समय पर गाइड लाइन जारी की हैं। परस्पर दूरी रखने, मास्क के उपयोग और बार-बार साबुन से हाथ धोने की सलाह लोगों को विभिन्न माध्यमों से निरंतर दी जा रही है, ताकि संक्रमण को पूरी तरह रोका जा सके।

Dakhal News

Dakhal News 21 September 2020


bhopal, MLA Sunita Patel , protest assembly, demanding removal of ASP

भोपाल। विधानसभा का एक दिवसीय सत्र सोमवार सुबह शुरू हुआ, लेकिन सत्र शुरू होने से पहले ही नरसिंहपुर के गाडरवारा से कांग्रेस विधायक सुनीता पटेल गांधीगीरी दिखाते हुए विधानसभा परिसर में स्थापित गांधी की प्रतिमा के नीचे धरने पर बैठ गईं। विधायक सुनीता पटेल ने नरसिंहपुर जिले के एएसपी राजेश तिवारी के खिलाफ मोर्चा खोला है और उन्हें हटाने की मांग कर रही हैं।     अवैध खनन करवा रहे हैं एएसपी    विधायक सुनीता पटेल ने अपनी मांग के समर्थन में विधायक विश्रामगृह में भी पोस्टर लगाए हैं। उनका कहना है कि एएसपी राजेश तिवारी इलाके में अवैध खनन करवा रहे हैं। वे अपने पद का गलत फायदा उठा रहे हैं। ऐसे में उन्हें तत्काल प्रभाव से हटाया जाना चाहिए। समाचार लिखे जाने तक सुनीता धरने पर बैठी हुई थीं। अधिकारियों ने उन्हें समझाने का प्रयास किया, लेकिन वे नहीं मानी। जिसके बाद महिला पुलिस अधिकारी को विधायक की सुरक्षा के लिए लगाया गया है।

Dakhal News

Dakhal News 21 September 2020


bhopal,MP Legislative Assembly, Government work dealt , one hour proceedings, Bill passed

भोपाल। मध्यप्रदेश विधानसभा का एक दिवसीय सत्र सोमवार को शुरू हुआ और एक घंटे की कार्यवाही में शासकीय कार्य निपटाने के बाद सदन की कार्यवाही अनिश्चितकाल के लिए स्थगित कर दी गई। इस दौरान मंत्री उषा ठाकुर के जयस को लेकर दिये गए बयान पर विपक्ष ने जमकर हंगामा किया। हंगामे के बीच ही सरकार ने कई विधेयक पारित करा लिये। सदन में विपक्ष की मांग पर मुख्यमंत्री ने प्रदेश में कोरोना संक्रमण की स्थिति का ब्यौरा भी सदन में दिया।    कोरोना संकट के बीच सोमवार को मप्र विधानसभा का एक दिवसीय सत्र हुआ। विधानसभा पहुंचने के पहले विधानसभा अध्यक्ष रामेश्वर शर्मा, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, नेता प्रतिपक्ष कमलनाथ, संसदीय कार्यमंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा समेत सभी विधायकों की जांच की गई और हाथ सैनिटाइज कराने के बाद उन्हें प्रवेश दिया गया। सदन में सबसे पहले पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी, राज्यपाल लालजी टण्डन समेत अन्य दिवंगतों को श्रद्धांजलि अर्पित की गई, जिसके बाद विधानसभा अध्यक्ष ने पांच मिनट के लिए सदन की कार्यवाही स्थगित कर दी।   मध्यप्रदेश की पंद्रहवीं विधानसभा के इस सातवें एक दिवसीय सत्र की शुरुआत में सामयिक अध्यक्ष (प्रोटेम स्पीकर) रामेश्वर शर्मा ने पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी, तत्कालीन राज्यपाल लालजी टंडन, सदन के सदस्य मनोहर ऊंटवाल और गोवर्धन दांगी तथा पूर्व विधानसभा उपाध्यक्ष हजारीलाल रघुवंशी के निधन की विधिवत सूचना सदन को दी। साथ ही पूर्व विधायक डेरहू प्रसाद धृतलहरे और अन्य नेताओं के अलावा गलवान घाटी में चीनी सैनिकों के साथ संघर्ष में शहीद हुए जवानों, जम्मू कश्मीर के बारामूला में शहीद सैनिक और देश प्रदेश में कोरोना के कारण व्यक्तियों के निधन की सूचना दी और सदन की ओर से श्रद्धांजलि अर्पित की।   इसके अलावा सदन में पूर्व विधायक उदय सिंह पंड्या, चंपालाल देवड़ा, देवेंद्र कुमारी, बलिहार सिंह, बलबीर सिंह कुशवाह, घनश्याम प्रसाद जायसवाल, बूंदीलाल रावत, विमला शर्मा, मनमोहन शाह बट्टी, चिमनलाल सडाना, रमाकांत तिवारी, गणेशराम खटीक और बिंद्रा प्रसाद साकेत तथा छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी और पूर्व केंद्रीय मंत्री हंसराज भारद्वाज के निधन के उल्लेख के साथ उनके प्रति भी श्रद्धांजलि अर्पित की गई। सदन के नेता एवं मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सभी दिवंगतों का राजनैतिक, सामाजिक और देश सेवा के क्षेत्र में योगदान का जिक्र करते हुए सभी के प्रति श्रद्धांजलि अर्पित की। विपक्ष के नेता कमलनाथ ने अपनी और दल की ओर से सभी दिवंगतों को श्रद्धांजलि दी। इसके बाद सभी ने दो मिनट का मौन रखा और प्रोटेम स्पीकर रामेश्वर शर्मा ने दिवंगतों के सम्मान में कार्यवाही पांच मिनट के लिए स्थगित कर दी।   स्थगन के बाद जब सदन दोबारा समवेत हुआ, तो सबसे पहले संसदीय कार्य मंत्री ने आदेशों पत्रों को पटल पर रखा। अध्यक्ष ने विधानसभा की सदस्यता से त्यागपत्र देने वाले विधायकों, सदस्यों की सूचना सदन को दी। वित्त मंत्री की अनुपस्थिति में संसदीय कार्य मंत्री ने उनका कार्य संपादित किया। सबसे पहले धन विनियोग विधेयक सदन में प्रस्तुत किया गया। इस पर कांग्रेस ने चर्चा कराने की मांग की, लेकिन सरकार ने मना कर दिया। इसके बाद मध्यप्रदेश विनियोग विधेयक 2020 पारित हो गया। संसदीय कार्य मंत्री ने समस्त विभागों की अनुदान मांगों का प्रस्ताव एक साथ प्रस्तुत किया। इस पर कांग्रेस विधायक दल के मुख्य सचेतक गोविंद सिंह एवं नेता प्रतिपक्ष कमलनाथ ने चर्चा कराने का अनुरोध किया। जिसके जवाब में संसदीय कार्य मंत्री ने सर्वदलीय बैठक का उल्लेख किया और आपत्ति पर विचार न करते अनुदान मांगें पारित कर दी गईं।    इसके बाद मंत्री उषा ठाकुर द्वारा गत दिनों को लेकर दिये गये बयान को लेकर विपक्ष ने सदन में जमकर हंगामा किया। दरअसल, मंत्री ने जयस को देशद्रोही संगठन बता दिया था। सदन में पूर्व मंत्री सुरेंद्र सिंह बघेल हनी ने यह मुद्दा उठाया। सदन में हंगामें के बीच मध्यप्रदेश साहूकार संसोधन विधेयक 2020, अनुसूचित जनजाति ऋण विमुक्ति विधेयक 2020 पारित हो गए। संसदीय कार्यमंत्री ने प्रस्ताव प्रस्तुत किया कि सर्वदलीय बैठक निर्णय के अनुसार सदन कार्यवाही समाप्त की जाए। विधानसभा के सामयिक अध्यक्ष रामेश्वर शर्मा ने कार्यसूची में शामिल विषयों पर कार्यवाही पूर्ण होने पर सदन की कार्यवाही अनिश्चितकाल के लिए स्थगित कर दी। सदन की कार्यवाही करीब एक घंटे चली।   बता दें कि कोरोना के चलते इस तीन दिवसीय सत्र को महज एक दिन का किया गया है, जिसमें केवल शासकीय कार्य ही संपादित किए जाएंगे। सदन में कुल 202 विधायकों में से केवल 60 ही मौजूद रहे। इनमें 32 विधायक भाजपा, 22 कांग्रेस, दो बसपा, एक सपा और चार निर्दलीय शामिल हैं। वहीं, 141 विधायक अपने-अपने जिलों से वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से सदन की कार्यवाही में शामिल हुए।

Dakhal News

Dakhal News 21 September 2020


agar malwa, Recruitment , government departments ,soon in MP, Shivraj

आगरमालवा। मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने रविवार को आगरमालवा जिले के बड़ौद में कहा कि प्रदेश में जल्द ही पुलिस, शिक्षक और स्वास्थ्य विभाग की नौकरियों में भर्ती की प्रक्रिया शुरू की जायेगी जिससे शिक्षित बच्चें नौकरी में चयनित होकर, रोजगार प्राप्त कर सकें। वही कोरोना संकट दूर होते ही तीर्थदर्शन यात्रा रेल के माध्यम से फिर से चालू की जायेगी।  उन्होंने कांग्रेस को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि पिछली कांग्रेस सरकार ने वल्लभभवन को बेइमानों, भ्रष्टाचारियों व दलालो का अड्डा बना दिया था। उन्होने आगे कहा कि महिला सशक्तिकरण को बढ़ावा देने के लिए स्वहायता समूहों को चौदह सौ करोड़ रूपये दिये जायेगें। मुख्यमंत्री ने रविवार को आगरमालवा जिले के बड़ौद कृषि उपज मंडी में 7791.42 लाख रुपए के विकास कार्यां का भूमिपूजन एवं जनकल्याणकारी योजनाओं में हितलाभ वितरण कार्यक्रम में कहा कि प्रदेश सरकार किसान हितैषी है।  प्रदेश के 22 लाख किसानों के खाते में फसल बीमा की 4688 करोड़ रूपए की राशि जमा की गई है। जिन किसानों को बीमा राशि कम मिली है तथा बीमा कम्पनी के लाभ से संतुष्ट नहीं है, उनकी जांच करवाने के निर्देश भी जिला प्रशासन को दिए गए है। भावांतर की राशि भी सभी किसानों को भुगतान की जाएगी। कोरोना संक्रमण काल के चलते राज्य सरकार को टैक्स से मिलने वाली राशि नहीं आने से निश्चित रूप से आर्थिक सीमाएं हैं, किन्तु फिर भी किसानों के हित में किसी भी तरह की बाधा नहीं आने दी जायेगी। किसानों की फसल नुकसानी का मुआवजा एवं बीमा राशि का भुगतान करने के लिए राशि का प्रबंध कहीं से भी किया जाएगा। वर्तमान में किसानों की जो सोयाबीन फसल में नुकसान हुआ हैं,उसकी क्षति का भी शत्-प्रतिशत आंकलन करवाया जाएगा।  उन्होंने कहा कि इस बार किसानों की फसल नुकसानी की भरपाई बीमा राशि एवं मुआवजा राशि प्रदाय की जाएगी। श्री चौहान ने कहा कि आगामी तीन सालों में किसी गरीब का कच्चा मकान नहीं रहेगा, सभी को प्रधानमंत्री आवास योजना में पक्के मकान बनवाकर दिए जाएंगे। वही जिले के सभी गांवों में नल जल योजना के माध्यम से पानी उपलब्ध करवाया जाएगा। किसानों को भी सिंचाई हेतु भरपूर पानी उपलब्ध करवाया जाएगा। उन्होंने कहा कि आगरमालवा जिले के लिए स्वीकृत हर घर नल से जल योजना का भी प्राथमिकता से क्रियान्वयन करवाया जाएगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना काल में प्रदेश की जनता को जो बड़े हुए बिजली बिल मिले हैं,उनके भुगतान को रोक दिया गया है। आगामी माह से केवल एक ही माह का बिजली बिल भरना होगा।  मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि कोरोना संक्रमण काल में पथ व्यावसाईयों को कोई परेशानी न हो तथा उनका व्यवसाय पुनः चालू हो सकें,इसके लिए स्ट्रीट वेंडर योजनान्तर्गत बिना ब्याज के 10 हजार रुपए की कार्यशील पूंजी का ऋण उपलब्ध करवाया गया। जिन पथ विक्रेताओं के काम-धंधे बंद हो गए थे,उन्हें फिर से रोजगार से जोड़ दिया गया। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए कि जिले के अधिक से अधिक शहरी एवं ग्रामीण स्ट्रीट वेंडरों को योजना का लाभ दिलवाया जाए।  मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि बैंड-बाजा वाले को भी स्ट्रीट वेंडर योजना का लाभ दिया जाएगा साथ ही उन्हें एक रुपए किलों का राशन मिल सकें,इस हेतु खाद्यान्न पात्रता पर्ची भी वितरित की जाएगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में महिला सशक्तिकरण कार्य पूरी क्षमता से किया जा रहा है। स्व-सहायता समूहों को 14 सौ करोड़ रुपए की सहायता उनके विकास के लिए दी जाएगी। उन्होंने कहा कि प्रदेश के बेटे-बेटियों को पढ़ाई में कोई आर्थिक परेशानी नहीं आने दी जाएगी। आईआईटी, मेडीकल एवं अन्य तकनीकी पाठ्यक्रम की पढ़ाई हेतु बेटे-बेटियों की फीस मध्यप्रदेश सरकार वहन करेगी। हमारा संकल्प सबका साथ और सबका विकास है। उन्होंने आमजनों से आव्हान किया कि वे सरकार को अपना भरपूर समर्थन दें। ।

Dakhal News

Dakhal News 20 September 2020


bhopal, One day session,MP Assembly , limited number , members included

भोपाल। मध्यप्रदेश विधानसभा का एक दिवसीय सत्र सोमवार को आयोजित होने जा रहा है। कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों को देखते हुए इस बार सत्र में कई महत्वपूर्ण परिवर्तन किए गए है। इस सत्र में सीमित संख्या में सदस्य शामिल होंगे। एक दिवसीय सत्र में कार्यवाही के दौरान दिवंगत नेताओं को श्रद्धांजलि दी जाएगी। जबकि विधानसभा अध्यक्ष का चुनाव नहीं होगा।   इस बार सत्र में केवल 57 विधायक ही शामिल होंगे। एक दिवसीय सत्र में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान सहित 18 मंत्री शामिल होंगे। इसके अलावा विपक्षी पार्टी कांग्रेस के 22 विधायक सत्र में भाग लेंगे। भाजपा के 15 बीएसपी के एक और सपा के भी विधायक शामिल होंगे। एक दिवसीय विधानसभा सत्र में नेता प्रतिपक्ष कमलनाथ भी शामिल होंगे। वर्चुअल और एक्चुअल दोनों तरीके से विधानसभा की कार्रवाई चलेगी। इसके अलावा अन्य विधायक ऑनलाइन सदन की करवायी में ले भाग ले सकेंगे। कोरोना के चलते सिर्फ बजट पास किया जाएगा, लेकिन विधानसभा अध्यक्ष का चुनाव नहीं होगा। एक दिन के सत्र में दिवंगत नेताओं को श्रद्धांजलि देने के बाद बजट को पास किया जाएगा।

Dakhal News

Dakhal News 20 September 2020


bhopal, BJP state president, VD Sharma,father dies,Corona, CM Shivraj, expressed grief

भोपाल। मप्र भाजपा प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदत्त शर्मा के पिता अमर सिंह का शनिवार देर रात ग्वालियर में कोरोना के चलते निधन हो गया। वे 93 वर्ष के थे। बीते 14 सितम्बर की शाम को उनती तबियत बिगडऩे के बाद उन्हें जयारोग्य अस्पताल के सुपर स्पेशलिटी ब्लॉक में भर्ती कराया गया था। वे कोरोना संक्रमित पाए गए थे और डॉक्टरों की देख रेख में उनका इलाज चल रहा था, लेकिन शनिवार देर रात हालत बिगडऩे के बाद उनका निधन हो गया। वीडी शर्मा के पिता का अंतिम संस्कार रविवार को ग्वालियर में ही किया जाएगा। पिता के निधन का समाचार मिलते ही वीडी शर्मा भोपाल से ग्वालियर के लिए रवाना हो गए। उन्होंने लोगों से कोरोना संक्रमण को देखते हुए उनके पिता की अंत्येष्टि में शामिल नहीं होने की अपील की है।   वीडी शर्मा के पिता के निधन की खबर मिलते ही सीएम शिवराज ने ट्वीट कर श्रद्धांजलि अर्पित की है। उन्होंने ट्वीट कर कहा ‘ @BJPyMP के प्रदेशाध्यक्ष श्री vdsharmabjp के पूज्य पिताजी के निधन का दु:खद समाचार प्राप्त हुआ। दु:ख की इस घड़ी में मेरी संवेदनाएँ उनके साथ हैं। ईश्वर से प्रार्थना करता हूँ कि वे दिवंगत आत्मा को शांति दें और शोक संतप्त परिजनों को यह वज्रपात सहने की क्षमता प्रदान करें। एक अन्य ट्वीट कर उन्होंने दिवंगत आत्मा को नमन करते हुए कहा ‘ नैनं छिन्दन्ति शस्त्राणि नैनं दहति पावक:। न चैनं क्लेदयन्त्यापो न शोषयति मारुत:॥ विष्णुदत्त जी, पूज्य पिताजी आज हमारे बीच भले ही न रहे हों, लेकिन उनका आशीर्वाद और स्नेह आप पर हमेशा बना रहेगा।

Dakhal News

Dakhal News 20 September 2020


bhopal, BJP state president, VD Sharma,father dies,Corona, CM Shivraj, expressed grief

भोपाल। मप्र भाजपा प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदत्त शर्मा के पिता अमर सिंह का शनिवार देर रात ग्वालियर में कोरोना के चलते निधन हो गया। वे 93 वर्ष के थे। बीते 14 सितम्बर की शाम को उनती तबियत बिगडऩे के बाद उन्हें जयारोग्य अस्पताल के सुपर स्पेशलिटी ब्लॉक में भर्ती कराया गया था। वे कोरोना संक्रमित पाए गए थे और डॉक्टरों की देख रेख में उनका इलाज चल रहा था, लेकिन शनिवार देर रात हालत बिगडऩे के बाद उनका निधन हो गया। वीडी शर्मा के पिता का अंतिम संस्कार रविवार को ग्वालियर में ही किया जाएगा। पिता के निधन का समाचार मिलते ही वीडी शर्मा भोपाल से ग्वालियर के लिए रवाना हो गए। उन्होंने लोगों से कोरोना संक्रमण को देखते हुए उनके पिता की अंत्येष्टि में शामिल नहीं होने की अपील की है।   वीडी शर्मा के पिता के निधन की खबर मिलते ही सीएम शिवराज ने ट्वीट कर श्रद्धांजलि अर्पित की है। उन्होंने ट्वीट कर कहा ‘ @BJPyMP के प्रदेशाध्यक्ष श्री vdsharmabjp के पूज्य पिताजी के निधन का दु:खद समाचार प्राप्त हुआ। दु:ख की इस घड़ी में मेरी संवेदनाएँ उनके साथ हैं। ईश्वर से प्रार्थना करता हूँ कि वे दिवंगत आत्मा को शांति दें और शोक संतप्त परिजनों को यह वज्रपात सहने की क्षमता प्रदान करें। एक अन्य ट्वीट कर उन्होंने दिवंगत आत्मा को नमन करते हुए कहा ‘ नैनं छिन्दन्ति शस्त्राणि नैनं दहति पावक:। न चैनं क्लेदयन्त्यापो न शोषयति मारुत:॥ विष्णुदत्त जी, पूज्य पिताजी आज हमारे बीच भले ही न रहे हों, लेकिन उनका आशीर्वाद और स्नेह आप पर हमेशा बना रहेगा।

Dakhal News

Dakhal News 20 September 2020


bhopal,  Chief Minister ,interacted, with the farmers

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शुक्रवार को उज्जैन में आयोजित कार्यक्रम में सिंगल क्लिक से प्रदेश के 22 लाख किसानों के खाते में प्रधानमंत्री फसल बीमा के 4 हजार 686 करोड़ रुपये की राशि अंतरित की। कार्यक्रम में मुख्यमंत्री वेब कास्टिंग के माध्यम से खंडवा, सागर एवं धार के किसानों से सीधे बातचीत की एवं उनके खाते में फसल बीमा राशि डालने की जानकारी के बारे में पूछताछ की। धार के कृषक तरुण ने कहा कि उनके पास छह हेक्टेयर जमीन है और 90 हजार 164 रुपये बीमे का मिला है। मुख्यमंत्री को जब पता लगा कि तरुण की चार बेटियां हैं तो उन्होंने कहा कि बेटियों को अच्छे से शिक्षा देना।   मुख्यमंत्री खेत सडक़ योजना पुन: प्रारम्भ होगी   तरुण ने मुख्यमंत्री से खेती-किसानी में आने-जाने की समस्या को दूर करने के लिये मुख्यमंत्री खेत सडक़ योजना को फिर से प्रारम्भ करने का आग्रह किया। मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना संकट के बाद भी वे इस किसान हितैषी योजना को पुन: प्रारम्भ करेंगे।    खंडवा जिले के किसान रेवाराम से मुख्यमंत्री ने पूछा कि वे कौन-कौन सी फसल उगा रहे हैं और पिछली बार गेहूं कितना हुआ था। किसान रेवाराम ने कहा कि उन्हें सोयाबीन का फसल बीमा एक लाख 72 हजार 381 रुपये मिला है और इससे उनके नुकसान की भरपाई हो गई है। उन्होंने कहा कि उनके पास 15 हेक्टेयर जमीन है और वे सोयाबीन, गेहूं, चना की फसल लेते हैं किन्तु इस बार भी सोयाबीन की फसल में वायरस लगने के कारण बहुत नुकसान हुआ है।    उन्होंने कहा कि वर्ष 2019 की खरीफ फसल का बीमा पाकर उनका घाटा कुछ कम हो गया है। मुख्यमंत्री ने सागर के कृषक विक्रमसिंह से बात की तथा उनसे पूछा कि उनके चने का उपार्जन हुआ कि नहीं। विक्रम सिंह को फसल बीमा की एक लाख 44 हजार रुपये की राशि मिली है। कृषक ने कहा कि इस बार फिर से सोयाबीन में रोग लग गया है। मुख्यमंत्री ने इस पर कहा कि हमने प्रधानमंत्री फसल बीमा की तारीख बढ़ाई है ताकि शत-प्रतिशत किसानों का बीमा हो सके।   कार्यक्रम में कृषि मंत्री कमल पटेल ने कहा कि किसान भाइयों के लिये आज खुशी का दिन है। प्रदेश के 22 लाख 51 हजार 188 किसानों के खाते में एक साथ 4 हजार 686 करोड़ रुपये की राशि डाली जा रही है। यह देश किसानों का है और किसान इस देश की रीढ़ है। रीढ़ मजबूत होगी तो देश मजबूत होगा। कृषि मंत्री ने बताया कि प्रदेश के साथ-साथ उज्जैन जिले में एक लाख 44 हजार 123 कृषकों को 868 करोड़ रुपये बीमा के रूप में भुगतान एक क्लिक से किया गया है। कार्यक्रम में उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. मोहन यादव, सांसद अनिल फिरोजिया, विधायक पारस जैन, बहादुरसिंह चौहान, विवेक जोशी, बहादुरसिंह बोरमुंडला, प्रमुख सचिव कृषि अजीत केसरी, संभागायुक्त आनन्द कुमार शर्मा, आईजी राकेश गुप्ता, कलेक्टर आशीष सिंह सहित गणमान्य अतिथि एवं कृषक मौजूद थे।

Dakhal News

Dakhal News 18 September 2020


ujjain, MP Chief Minister, big gift , 60 thousand pharmacists , World Pharmacy Day

उज्जैन। राज्य सरकार द्वारा प्रदेश के 30 हजार दवा विक्रेता सहित 60 हजार फार्मासिस्ट के लिए पंजीयन के नवीनीकरण के लिए पूर्व में निर्धारित एक वर्ष की अवधि को बढ़ाकर नियमों में संशोधन करते हुए पांच वर्ष कर दी गई है। यह प्रदेश के दवा व्यवसाय में लगे कारोबारियों के लिए बड़ी सौगात है।    मध्यप्रदेश फार्मेसी काउंसिल के अध्यक्ष ओम जैन ने शुक्रवार को इसकी जानकारी देते हुए बताया कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा नियमों में संशोधन कर फार्मासिस्ट के लिए पंजीयन के नवीनीकरण की अवधि एक साल से बढ़ाकर पांच साल कर दी है। साथ ही पूर्व में पंजीयन मैनुअल आधार पर होते थे, इसमें भी संशोधन करते हुए अब पंजीयन एवं नवीनीकरण की संपूर्ण प्रक्रिया ऑनलाइन होगी।   उन्होंने बताया कि प्रदेश के 60 हजार फार्मासिस्ट को प्रति वर्ष एक बार काउंसिल में आना जाना पढ़ता था। पंजीयन ऑनलाइन होने से यात्रा, समय की एवं धन की बचत होगी। इस अभूतपूर्व निर्णय के साथ साथ फार्मासिस्ट को आधार से अपना पंजीयन लिंक करने पर नाम एवं जन्म तिथि में त्रुटि होने वाली त्रुटि  को भी ऑनलाइन ठीक करने की अनुमति प्रदान कर दी गई है।    उन्होंने इस निर्णय से प्रदेश के सभी फार्मासिस्ट संगठनों एवं दवाई विक्रेताओं में हर्ष की लहर है एवं समस्त फार्मासिस्ट की ओर से मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान एवं स्वास्थ्य मंत्री प्रभु राम चौधरी एवं प्रदेश  अध्यक्ष विष्णु दत्त शर्मा का आभार व्यक्त किया  गया  है। समस्त फार्मासिस्टों ने इस ऐतिहासिक निर्णय का स्वागत भी किया है।

Dakhal News

Dakhal News 18 September 2020


bhopal,Another minister, Shivraj government, became infected, Kanshana

भोपाल। मध्यप्रदेश में कोरोना के संक्रमण से मंत्री भी नहीं बच पा रहे हैं। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के बाद उनके मंत्रिमंडल के सदस्य भी एक के बाद एक कोरोना की चपेट में आ रहे हैं। अब शिवराज सरकार के एक और मंत्री कोरोना संक्रमित हो गए हैं। लोक स्वास्थ्य यांत्रिकीय मंत्री ऐदल सिंह कंषाना की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। इसके बाद उन्हें अपने सरकारी आवास में घरेलू एकांतवास किया गया है।   मंत्री ऐदल सिंह कंषाना ने गत दिवस भोपाल में उन्होंने अपना कोरोना टेस्ट कराया था। शुक्रवार सुबह उनकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई। इसके बाद वे घरेलू एकांतवास में चले गए। उन्होंने सम्पर्क में आये सभी लोगों से अनुरोध किया है कि वे अपनी जांच अवश्य करवाएं और चिकित्सक की सलाह के अनुसार स्वास्थ्य लाभ लें।   बता दें कि मध्यप्रदेश में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान स्वयं कोरोना संक्रमित हो गए थे। वे पूरी तरह स्वस्थ होकर अपने काम में जुट गए हैं, लेकिन उनके बाद मंत्री संक्रमित होते जा रहे हैं। इससे पहले कैबिनेट मंत्री अरविंद भदौरिया, तुलसीराम सिलावट, रामखेलावन पटेल, विश्वास सारंग, मोहन यादव और गोपाल भार्गव, स्वास्थ्य मंत्री डॉ. चौधरी भी कोरोना की चपेट में आ चुके हैं। अब भी इस सूची में ऐदल सिंह कंषाना भी जुड़ गए हैं।

Dakhal News

Dakhal News 18 September 2020


bhopal,Another minister, Shivraj government, became infected, Kanshana

भोपाल। मध्यप्रदेश में कोरोना के संक्रमण से मंत्री भी नहीं बच पा रहे हैं। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के बाद उनके मंत्रिमंडल के सदस्य भी एक के बाद एक कोरोना की चपेट में आ रहे हैं। अब शिवराज सरकार के एक और मंत्री कोरोना संक्रमित हो गए हैं। लोक स्वास्थ्य यांत्रिकीय मंत्री ऐदल सिंह कंषाना की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। इसके बाद उन्हें अपने सरकारी आवास में घरेलू एकांतवास किया गया है।   मंत्री ऐदल सिंह कंषाना ने गत दिवस भोपाल में उन्होंने अपना कोरोना टेस्ट कराया था। शुक्रवार सुबह उनकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई। इसके बाद वे घरेलू एकांतवास में चले गए। उन्होंने सम्पर्क में आये सभी लोगों से अनुरोध किया है कि वे अपनी जांच अवश्य करवाएं और चिकित्सक की सलाह के अनुसार स्वास्थ्य लाभ लें।   बता दें कि मध्यप्रदेश में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान स्वयं कोरोना संक्रमित हो गए थे। वे पूरी तरह स्वस्थ होकर अपने काम में जुट गए हैं, लेकिन उनके बाद मंत्री संक्रमित होते जा रहे हैं। इससे पहले कैबिनेट मंत्री अरविंद भदौरिया, तुलसीराम सिलावट, रामखेलावन पटेल, विश्वास सारंग, मोहन यादव और गोपाल भार्गव, स्वास्थ्य मंत्री डॉ. चौधरी भी कोरोना की चपेट में आ चुके हैं। अब भी इस सूची में ऐदल सिंह कंषाना भी जुड़ गए हैं।

Dakhal News

Dakhal News 18 September 2020


bhopal, Chief Minister inaugurated,Nutrition Festival, started distributing milk

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के जन्मदिवस के अवसर पर प्रदेश में 8 लाख बच्चों को दूध वितरण आरंभ कर राज्यव्यापी पोषण महोत्सव का शुभारंभ किया। इस दौरान उन्होंने लाड़ली लक्ष्मी योजना की 3 लाख 56 हजार 443 बालिकाओं को 75 करोड़ 55 लाख रुपये की राशि सिंगल क्लिक से उनके खाते में अंतरित की। मुख्यमंत्री ने सुपोषित प्रदेश के निर्माण के लिये राज्य स्तरीय पोषण प्रबंधन रणनीति जारी करते हुए प्रदेशवासियों को पोषण संकल्प दिलाया, साथ ही राज्य की 601 नवीन आंगनवाड़ी भवनों का लोकार्पण भी किया।    मुख्यमंत्री ने कहा कि केवल प्रदेश ही नहीं पूरे देश के लिये आनंद और प्रसन्नता का अवसर है कि लोकप्रिय जननायक और देशवासियों की आशा के केन्द्र हमारे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का आज जन्मदिवस है। उन्होंने प्रदेश की 8 करोड़ जनता की ओर से प्रधानमंत्री को जन्मदिन की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएँ देते हुए कहा कि नरेन्द्र मोदी ने निर्धन, निराश्रित, कमजोर की सेवा को अपना संकल्प बनाया है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी भारत के लिये भगवान का वरदान हैं। उनके जन्मदिवस से प्रदेश में गरीबों के कल्याण के लिये अनेक कार्यक्रम आरंभ किये जा रहे हैं। आगामी संपूर्ण सप्ताह गरीब कल्याण सप्ताह के रूप में मनाया जाएगा।   मुख्यमंत्री ने गुरुवार को मंत्रालय से गरीब कल्याण सप्ताह का शुभारंभ राज्यव्यापी पोषण महोत्सव से किया। पोषण महोत्सव 97 हजार से अधिक आंगनवाड़ी केन्द्रों पर एक साथ मनाया गया। प्रदेश की 23 हजार 922 ग्राम पंचायत मुख्यालयों, 378 नगरीय निकायों के 6 हजार से अधिक वार्डों, 313 जनपद पंचायतों और जिला मुख्यालयों पर कार्यक्रम आयोजित किए गए। ग्राम पंचायतों में ग्रामों की पोषण प्रबंधन रणनीति और वार्डों में वार्ड की पोषण प्रबंधन रणनीति जारी की गई। वर्चुअल आधार पर आधारित इस कार्यक्रम का प्रसारण दूरदर्शन सहित सभी प्रमुख चैनलों पर किया गया। इसके साथ ही ट्वीटर, फेसबुक तथा बेवकास्ट से भी बड़ी संख्या में लोग कार्यक्रम से जुड़े।   मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी गौरवशाली, शक्तिशाली और वैभवशाली भारत के निर्माता हैं। उन्होंने जो भी कार्य किया वह पूरी तन्मयता और दूरदृष्टि के साथ किया। देश की सीमाओं की रक्षा हो, आत्मनिर्भर भारत के निर्माण की संकल्पना हो या गरीबों के कल्याण और विकास के लिये चलायी जाने वाली योजनाएँ, प्रधानमंत्री मोदी की दक्ष नेतृत्व क्षमता हर गतिविधि में परिलक्षित होती है। मुख्यमंत्री ने कहा कि गरीबों की चिंता करने वाले ऐसे यशस्वी प्रधानमंत्री के जन्मदिन से राज्य सरकार ने गरीब कल्याण सप्ताह के अंतर्गत जन-जन की भलाई के कार्यक्रम संचालित करने का निर्णय लिया है।   अब पोषण सरकार - आंगनवाड़ी में होंगे पोषण मटके   मुख्यमंत्री ने कहा कि पोषण प्रबंधन रणनीति के माध्यम से पोषण सरकार पर कार्य करना आरंभ किया जा रहा है। हमारा यह मानना है कि कुपोषण मुक्ति की लड़ाई में समाज का साथ मिलना जरूरी हैं। इसके लिये हर गाँव में अन्नपूर्णा पंचायत बनाई जाएगी। जिसमें पंचायत, नगरीय निकाय, स्व-सहायता समूह, स्कूल प्रबंधन समिति, वन प्रबंधन समिति सहित अन्य लोगों को जोड़ा जाएगा। पोषण और स्वास्थ्य सेवाओं की गुणवत्ता पर निगरानी रखना इस पंचायत का काम होगा। उन्होंने प्रत्येक गाँव में पोषण मटके रखने की अपील की। उन्होंने कहा कि आंगनवाड़ी में रखे इन मटकों में सक्षम परिवारों के सहयोग से फल, सब्जी, अनाज आदि एकत्र किया जाएगा। कमजोर बच्चों एवं महिलाओं के पोषण स्तर को बढ़ाने के लिये इनका उपयोग किया जाएगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि मैं यह सुनिश्चित करूंगा कि मुख्यमंत्री निवास में लगी पोषण वाटिका से फल और सब्जियाँ पास की आंगनवाड़ी के पोषण मटके में जाएं।   'रोटी बनाओ-कंडा थापो की जगह बेटा-बेटी बराबर मानो'   मुख्यमंत्री ने कहा कि 'रोटी बनाओ-कंडा थापो की जगह बेटा-बेटी बराबर मानो' की सोच स्थापित करने और बेटियों के प्रति समाज की मानसिकता बदलने के लिए लाड़ली लक्ष्मी योजना आरंभ की गयी थी। मुझे इस बात की प्रसन्नता है कि जिन बेटियों को में गोद में लेकर एनएससी दी वे आज 9वीं 10वीं कक्षा में पढ़ रहीं हैं और डॉक्टर व कलेक्टर बनने का सपना देख रहीं हैं। बेटियों को बराबरी के अवसर उपलब्ध कराने के लिये हमारी सरकार प्रतिबद्ध है। इसी उद्देश्य से उनके जन्म से लेकर रोजगार और विवाह तक हर स्तर पर उनकी सहायता व कल्याण के लिये योजनाएँ संचालित की गयी हैं। प्रदेश में बालिकाओं एवं महिलाओं के विरूद्ध हिंसा सहन नहीं की जाएगी। ऐसी कृत्य करने वालों के विरूद्ध सख्त से सख्त कार्यवाही होगी। बेटियों, बहनों और माताओं का सम्मान, सुरक्षा और समानता का भाव सर्वोपरि है।   प्री-प्रायमरी एजुकेशन की जिम्मेदारी अब आंगनवाडिय़ों को   मुख्यमंत्री ने कहा कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति के अंतर्गत 6 साल तक के बच्चों के प्री-प्रायमरी एजुकेशन की जिम्मेदारी अब आंगनवाडिय़ों को सौंपी जा रही है। मंत्रालय में आयोजित राज्य स्तरीय कार्यक्रम में महिला एवं बाल विकास मंत्री इमरती देवी, मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस, प्रमुख सचिव महिला एवं बाल विकास अशोक शाह सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे।    

Dakhal News

Dakhal News 17 September 2020


bhopal, Narottam hit back, Tankha

भोपाल। कांग्रेस सांसद विवेक तन्खा ने वरिष्ठ कांग्रेस नेताओं के साथ वीडियो कांफ्रेंसिंग कर चुनाव आयोग के समक्ष मप्र सरकार द्वारा 17 से 23 सितम्बर तक आयोजित गरीब कल्याण सप्ताह अभियान के द्वारा चुनाव के पूर्व सत्ता के घोर दुरुपयोग पर कड़ी आपत्ति जताते हुए, अभियान को तुरुन्त रोकने के पक्ष में तर्क दिया। उन्होंने इसे सत्ता के दुरुपयोग की पराकाष्ठा बताते हुए, निष्पक्ष चुनाव के लिए घातक बताया है। विवेक तन्खा ने ट्वीट कर इसकी जानकारी दी है। तन्खा के ट्वीट कर प्रदेश  के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने पलटवार किया है।   मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने गुरुवार को मीडिया से बातचीत करते हुए विवेक तंखा ने ट्वीट पर निशाना साधते हुए कहा कि जब- जब भाजपा गरीब के लिए काम करेगी कांग्रेस को पीड़ा होगी। उन्होंने चुटकी लेते हुए कहा कि कांग्रेस का डिहाइड्रेशन हो जाता है हाजमा खराब हो जाता है। चुनाव आयोग का बहाना ईवीएम का बहाना, फील्ड में जाना नही और बहाने बनाना है।   कमलनाथ को बताया साइबेरियन पक्षी इस दौरान मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने पूर्व सीएम कमलनाथ द्वारा भाजपा पर आरोप लगाए जाने पर निशाना साधते हुए उन्हें सायबेरियन पक्षी बताया। उन्होंने कहा कि कमलनाथ सिर्फ वोट मांगने चले जाते है फिर कभी नही जाते। कमलनाथ ओर कांग्रेसी साइबेरियन पक्षियों की तरह है। मंत्री मिश्रा ने कहा कि कांग्रेस ने 15 मांहिने में एक नौकरी नही दी, एक व्यक्ति को रोजगार दिया नही, 4 हजार रुपये भत्ता दिया नही,  लिखित में झूठ बोलने वाले मुख्यमंत्री थे।   झाम सिंह धुर्वे एनकाउंटर सीआईडी जांच के आदेश दिए झाम सिंह धुर्वे एनकाउंटर को लेकर मंत्री मिश्रा ने कहा कि मौत कोई भी हो दुखद है, जांच का विषय है। वो नक्सली की गोली से मारा या पुलिस की गोली से। उन्होंने कहा कि मजिस्ट्रियल जांच के बाद सीआईडी जांच के आदेश दिए है। दोषी जो भी हो दंडित होगा, नही बचेगा, इस पर राजनीति नही होना चाहिए

Dakhal News

Dakhal News 17 September 2020


bhopal,BJP leaders, including CM Shivraj, greeted PM Modi , his birthday

भोपाल। देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज गुरुवार को अपना 70वां जन्मदिन मना रहे हैं। इस अवसर पर उन्हें देश के साथ साथ दुनिया भर से भी बधाई संदेश मिल रहे हैं। पीएम मोदी का जन्म 17 सितंबर 1950 को गुजरात के वडनगर में हुआ था। उनके जन्मदिन के मौके पर भाजपा 14-20 सितंबर तक सेवा सप्ताह के रूप में मना रही है। प्रधानमंत्री मोदी को जन्मदिन पर मप्र के सीएम शिवराज सिंह चौहान समेत भाजपा नेताओं ने शुभकामनाएं दी है और उनके दीर्घायु होने की कामना की है।   मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने पीएम मोदी को ट्वीट कर जन्मदिन की बधाई देते हुए कहा ‘प्रार्थयामहे भव शतायुषी। ईश्वर: सदा त्वां च रक्षतु। राष्ट्रसेवा और जनहित को सर्वोपरि रखने वाले संकल्पित कर्मयोगी, श्रेष्ठ भारत के निर्माण के लिए अविराम कार्य करने वाले मां भारत के सच्चे सेवक, यशस्वी प्रधानमंत्री श्री@narendramodi जी को जन्मदिवस पर आत्मीय बधाई! एक अन्य ट्वीट कर उन्होंने पीएम मोदी के कार्यकाल में हुए अविस्मरणीय कार्यों के लिए उनकी प्रशंसा करते हुए कहा ‘स्वयं को प्रधानसेवक मानकर राष्ट्र उत्थान के लिए दिन-रात कार्य करने वाले विनम्र प्रधानमंत्री श्री @narendramodi जी ने देश को एक नये आत्मविश्वास, गौरव और गर्व से भर दिया है। अनेक चुनौतियों का सामना करते हुए भी देश #AatmaNirbharBharat के महान मंत्र को साधने के लिए संकल्पित है। प्रधानमंत्री श्री @narendramodi जी ने धारा 370, तीन तलाक के अभिशाप से देश को मुक्त कर श्रीराम मंदिर के निर्माण व देश में स्वच्छता की अलख जगाने का अभूतपूर्व कार्य किया। आइये, हम सब भी स्वच्छता के प्रयास, गरीबों की सेवा, नियमों के पालन के माध्यम से उन्हें जन्मदिन का उपहार दें।भाजपा प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा ने पीएम मोदी को जन्मदिन पर हार्दिक शुभकामनाएं देते हुए कहा ‘सम्पूर्ण विश्व में भारत का मस्तक ऊँचा करने वाले, गरीबों, शोषितों एवं वंचितों की प्रगति के लिए सर्वस्व समर्पित करने वाले भारत के यशस्वी प्रधानमंत्री श्री @narendramodi जी को जन्मदिन की आत्मीय बधाई एवं मंगलकामनाएँ। एक अन्य ट्वीट कर उन्होंने कहा ‘माँ भारती के प्रति आपकी कर्तव्य निष्ठा, नि:स्वार्थ सेवा भाव एवं सपर्मण हम सभी के लिए प्रेरणा का श्रोत हैं। ईश्वर से प्रार्थना है कि आप हमेशा स्वस्थ रहें एवं अनंत वर्षों तक इसी तरह देश हित के कार्य करते रहें। मुझे गर्व है कि मैं आपकी इस सेवा यात्रा का हिस्सा बन सका। कोरोना काल की चुनौतियों को भारत के लिए अवसर में बदलने के प्रधानमंत्री श्री @narendramodi जी के दृणसंकल्प का समर्थन सम्पूर्ण विश्व कर रहा है, मुझे पूरा विश्वास है कि मोदी जी के नेतृत्व में #AatmaNirbharBharat का सपना जल्द ही पूरा होगा एवं हम विश्वगुरु भी बनेंगे।   भाजपा राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने अपने शुभकामना संदेश में कहा ‘शुभ जन्मदिन !!! भारत की गौरवशाली परंपरा के ध्वजवाहक, विश्व में भारतीय संस्कृति, ज्ञान को सुदृढ़ता के साथ प्रसारित कर देश के समृद्ध विकास के शिल्पकार माननीय प्रधानमंत्री श्री @narendramodi जी को जन्मदिन की अनंत बधाई एवं शुभकामनाएं।   प्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने पीएम मोदी को जन्मदिन की बधाई देते हुए उनके दीर्घायु होने की कामना की है। उन्होंने अपने ट्वीट में कहा ‘माँ भारती के सच्चे सपूत और करोड़ों भारतीयों के प्रेरणास्रोत प्रधानमंत्री  श्री @narendramodi जी को जन्मदिन की हार्दिक  शुभकामनाएं। नया भारत आपके निर्णायक नेतृत्व में आत्मनिर्भर होकर विश्व गुरु बने। ईश्वर से आपके स्वस्थ और सुदीर्घ जीवन की कामना करता हूँ।

Dakhal News

Dakhal News 17 September 2020


bhopal,Food should, right ,every person, everyone will get ,adequate ration, CM Shivraj

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बुधवार को भोपाल के समन्वय भवन में राज्यस्तरीय अन्न उत्सव का शुभारंभ किया। इस अवसर पर उन्होंने वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से मुरैना की जिल्लो खान, उज्जैन के लक्ष्मण मण्डलौइ, इंदौर के राधेश्याम तथा छतरपुर जिले की कस्तूरी बाई से संवाद किया।   सिलेंडर मिला मकान मिला अब राशन भी मिल रहा है   बानमौर मुरैना की जिल्लो खान ने मुख्यमंत्री को बताया कि उन्हें दो साल पहले प्रधानमंत्री आवास योजना से पक्का मकान मिल गया था। उसके बाद सिलेंडर एवं रसोई गैस मिली और अब सस्ता राशन भी मिल गया है। उन्हें 1 रुपये किलो में 50 किलो गेहूँ एवं चावल मिले हैं तथा नमक एवं केरोसिन भी मिला है। इसके अलावा उन्हें 50 किलो नि:शुल्क राशन एवं प्रति सदस्य 1 किलो दाल भी हर महीने मिल रही है। मुख्यमंत्री ने कहा कि वह अपने बच्चों को खूब पढ़ाएं तथा आगे बढ़ाएं। सरकार हर तरीके से उनकी मदद करेगी   मंत्री जी इनका अच्छे से अच्छा इलाज कराएं   अंबोदिया जिला उज्जैन के हितग्राही लक्ष्मण मंडलोई ने मुख्यमंत्री को बताया कि उनके परिवार में 5 सदस्य हैं, उन्हें पात्रता पर्ची मिल गई है तथा 25 किलो गेहूं चावल एवं नमक भी प्राप्त हो गए हैं। वे कुछ दिनों पहले एक दुर्घटना में दिव्यांग हो गए थे। अत: अब कोई कामकाज नहीं कर पाते हैं। इस पर मुख्यमंत्री ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में उज्जैन से शामिल हुए उच्च शिक्षा मंत्री मोहन यादव से कहा कि मंत्री जी आप इनका अच्छे से अच्छा इलाज कराएं। लक्ष्मण मंडलोई के बेटे सौरभ मंडलोई ने मुख्यमंत्री से कहा कि मामा जी आपकी योजनाएं बहुत अच्छी हैं, मेरी फीस माफ हो गई है तथा छात्रवृत्ति मिल रही है। मैं आगे एमबीए करना चाहता हूँ। मुख्यमंत्री ने कहा कि उसे शिक्षा में पूरी मदद प्रदेश सरकार द्वारा दी जाएगी।   मामा जी आज मैं बहुत खुश हूँ   इंदौर जिले के भवन निर्माण श्रमिक राधेश्याम ने मुख्यमंत्री से कहा कि उन्हें आज 25 किलो गेहूँ चावल तथा नमक एक रुपए की दर पर मिल गया है। इसके साथ ही उन्हें हर महीने प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना का राशन भी निशुल्क मिल रहा है। उनके बच्चों की फीस सरकार भर रही है, उनका बिजली का बिल भी माफ हो गया है। उन्होंने मुख्यमंत्री चौहान को धन्यवाद देते हुए कहा कि 'मामा जी आज मैं बहुत खुश हूँ'।   आपके चेहरे पर हरदम मुस्कुराहट रहे   छतरपुर जिले के बड़ा मलहरा की कस्तूरी बाई ने मुख्यमंत्री को बताया कि वे मेहनत मजदूरी कर अपने परिवार का जीवन यापन करती हैं। उनके 5 बच्चे हैं। उन्हें आज 30 किलो गेहूँ, चावल तथा नमक एक रुपए किलो की दर पर मिल गया है। इसके अलावा 30 किलो गेहूँ चावल तथा 6 किलो दाल भी नि:शुल्क मिल गई है। उन्होंने इसके लिए मुख्यमंत्री को धन्यवाद दिया। मुख्यमंत्री ने कहा कि आप खुश रहें, आपके चेहरे पर हरदम मुस्कुराहट रहे, यही उनकी कामना एवं प्रयास हैं।

Dakhal News

Dakhal News 16 September 2020


bhopal, Kamal Nath, big attack, government, election announcement ,food festival

भोपाल। उपचुनाव से पहले कांग्रेस अपने कार्यकाल में हुए कामों को जनता के सामने गिना रही है। पूर्व सीएम और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ अपनी जनसभाओं में विशेष तौर पर अपने कार्यों का उल्लेख कर रहे हैं, साथ ही भाजपा पर लगातार हमले बोल रहे हैं। ऐसे ही कमलनाथ ने बुधवार को जारी अपने एक बयान में प्रदेश सरकार द्वारा चलाए जा रहे अन्न उत्सव पर निशाना साधा है। उन्होंंने कहा है कि भाजपा आज 37 लाख नये लाभार्थियो को शामिल कर प्रदेश भर में "अन्न उत्सव " मना रही है। जबकि सच्चाई यह है कि हमारी सरकार ने पहले वर्ष में ही राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम के अंतर्गत उपभोक्ता सूची में पूर्व में सम्मिलित परिवारों के सत्यापन, अपात्र परिवारों को हटाकर छूटे हुए वास्तविक गरीब परिवारों को सूची में जोडऩे का काम प्रारंभ किया था, जो कार्य पिछले कई वर्षों से नहीं हुआ था।   अपने बयान में आगे कमलनाथ ने कहा है कि अधिनियम में शामिल 117.52 पात्र परिवारों के 5 करोड़ 46 लाख हितग्राहियों का घर- घर जाकर सत्यापन का व छूटे वास्तविक गरीब परिवारों के नाम जोडऩे के अभियान का कार्य हमारी सरकार ने ही शुरू करवाया था। बायोमेट्रिक सत्यापन के आधार पर राशन का विवरण 18 लाख से बढ़ाकर 76.93 परिवारों को माह अक्टूबर 2019 में देने का कार्य हमारी सरकार ने ही किया था।   उन्होंने बताया कि समाज के गरीब तबके के लोगों को जीवन यापन में सहूलियत देने के उद्देश्य से हमारी सरकार ने रियायती दरों पर खाद्यान्न व अन्य सुविधाएं देना शुरू किया था। पोर्टेबिलिटी योजना के तहत हमारी सरकार ने हितग्राही को किसी भी राशन की दुकान से खाद्यान्न लेने की सुविधा भी प्रदान की थी। राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम 2013 के अंतर्गत वर्ष 2011 की जनसंख्या के अनुसार प्रदेश की 75 प्रतिशत आबादी यानी 5 करोड़ 46 लाख को ही लाभान्वित करने का प्रावधान था। हमारी सरकार ने वर्ष 2018 की बढ़ी हुई अनुमानित जनसंख्या के आधार पर बचे 9 प्रतिशत यानि 71 लाख हितग्राहियों हेतु अतिरिक्त खाद्यान्न आवंटन करने की मांग भी भारत सरकार से की थी।कमलनाथ ने सरकार से मांग करते हुए कहा कि शिवराज सरकार यह बताये कि उस हिसाब ने 37 लाख नये लाभार्थियो के लिये अतिरिक्त खाद्यान्न की उन्होंने क्या व्यवस्था की है ? क्या यह अन्य घोषणाओं की तरह सिर्फ़ चुनावी घोषणा बन कर रह जायेगी? उपभोक्ताओं के हित में हमारी सरकार ने कई उल्लेखनीय निर्णय लिये थे।

Dakhal News

Dakhal News 16 September 2020


bhopal, Kotma MLA, Sunil Saraf ,admitted , Corona positive

भोपाल। आम लोगों के साथ-साथ नेता, मंत्री और विधायक-सांसद भी कोरोना की चपेट में आ रहे हैं। कोरोना से पीड़ित इन नेताओं में सत्ता पक्ष और विपक्ष दोनों के लोग शामिल हैं। मंगलवार को कोरोना संक्रमण के चलते ब्यावरा से कांग्रेस विधायक गोवर्धन दांगी की मौत हो गई थी। वहीं, बुधवार को कोतमा से कांग्रेस विधायक सुनील सराफ को कोरोना पॉजीटिव पाया गया है।    प्राप्त जानकारी के अनुसार अनूपपुर जिले की कोतमा विधानसभा सीट से कांग्रेस के विधायक  सुनील सराफ की कोरोना जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। उन्हें इलाज के लिए राजधानी भोपाल के चिरायु अस्पताल में भर्ती करवाया गया है। कोरोना संक्रमण के चलते विधायक सराफ का 21 सितम्बर को आयोजित किए जा रहे विधानसभा के एक दिवसीय सत्र में भाग लेना संदिग्ध हो गया है।

Dakhal News

Dakhal News 16 September 2020


bhopal, Vidhan Sabha session , one day, President

भोपाल। मध्यप्रदेश विधानसभा के 21 सितंबर को होने वाले सत्र की व्यवस्थाओं को लेकर मंगलवार को विधानसभा के प्रोटेम स्पीकर रामेश्वर शर्मा की अध्यक्षता में सर्वदलीय बैठक हुई। बैठक में मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान, संसदीय कार्यमंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा,  मंत्री भूपेंद्र सिंह, नेता प्रतिपक्ष कमलनाथ, पूर्व मंत्री पीसी शर्मा, सुश्री विजयलक्ष्मी साधो एवं विधानसभा के प्रमुख सचिव एपी सिंह मौजूद थे। बैठक में तय हुआ कि कोरोना संक्रमण को लेकर सत्र में विशेष सावधानियां बरती जाएंगी। इस सत्र में विधानसभा अध्यक्ष का चुनाव नहीं होगा।    विधानसभा का एकदिवसीय सत्र 21 सितंबर को होगा, जिसमें सिर्फ बजट पेश किया जाएगा। इसके अलावा कुछ नहीं होगा। इसका निर्णय मंगलवार सुबह विधानसभा में हुई सर्वदलीय बैठक में लिया गया। इस निर्णय पर कांग्रेस ने भी अपनी सहमति दी है। पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा कि बजट पास होना जरूरी है। प्रोटेम स्पीकर रामेश्वर शर्मा ने कहा कि यह सत्र सिर्फ एक दिन का होगा। सत्र में प्रश्नकाल नहीं होगा। इस दौरान अगर कोई सवाल आता है, तो उस पर चर्चा की जाएगी। इससे पहले गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने सत्र के दौरान स्पीकर और डिप्टी स्पीकर का चुनाव कराए जाने की बात कही थी।

Dakhal News

Dakhal News 15 September 2020


bhopal, Vidhan Sabha session , one day, President

भोपाल। मध्यप्रदेश विधानसभा के 21 सितंबर को होने वाले सत्र की व्यवस्थाओं को लेकर मंगलवार को विधानसभा के प्रोटेम स्पीकर रामेश्वर शर्मा की अध्यक्षता में सर्वदलीय बैठक हुई। बैठक में मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान, संसदीय कार्यमंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा,  मंत्री भूपेंद्र सिंह, नेता प्रतिपक्ष कमलनाथ, पूर्व मंत्री पीसी शर्मा, सुश्री विजयलक्ष्मी साधो एवं विधानसभा के प्रमुख सचिव एपी सिंह मौजूद थे। बैठक में तय हुआ कि कोरोना संक्रमण को लेकर सत्र में विशेष सावधानियां बरती जाएंगी। इस सत्र में विधानसभा अध्यक्ष का चुनाव नहीं होगा।    विधानसभा का एकदिवसीय सत्र 21 सितंबर को होगा, जिसमें सिर्फ बजट पेश किया जाएगा। इसके अलावा कुछ नहीं होगा। इसका निर्णय मंगलवार सुबह विधानसभा में हुई सर्वदलीय बैठक में लिया गया। इस निर्णय पर कांग्रेस ने भी अपनी सहमति दी है। पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा कि बजट पास होना जरूरी है। प्रोटेम स्पीकर रामेश्वर शर्मा ने कहा कि यह सत्र सिर्फ एक दिन का होगा। सत्र में प्रश्नकाल नहीं होगा। इस दौरान अगर कोई सवाल आता है, तो उस पर चर्चा की जाएगी। इससे पहले गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने सत्र के दौरान स्पीकर और डिप्टी स्पीकर का चुनाव कराए जाने की बात कही थी।

Dakhal News

Dakhal News 15 September 2020


bhopal, Kamal Nath , Digvijay Singh, expressed grief over, death of MLA, Govardhan Dangi

भोपाल। मध्यप्रदेश के राजगढ़ जिले की ब्यावरा विधानसभा सीट से कांग्रेस विधायक गोवर्धन दांगी का मंगलवार निधन हो गया। बताया जा रहा है कि वे लम्बे समय से बीमार थे और उन्हें दिल्ली के मेदांता अस्पताल में भर्ती किया गया था, जहां मंगलवार तडक़े उन्होंने अंतिम सांस ली।  उनके निधन पर पूर्व सीएम और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ तथा पार्टी के वरिष्ठ नेता व राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह ने शोक व्यक्त किया है।    प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने मंगलवार को ट्वीट करते हुए कहा है कि -राजगढ़ जिले की ब्यावरा सीट से हमारे साथी विधायक गोवर्धन दांगी के निधन का बेहद दुखद समाचार मिला है। वे पिछले कुछ समय से अस्वस्थ चल रहे थे। बेहद कर्मठ, जुझारू व्यक्तित्व के धनी श्री दांगी अपने क्षेत्र के विकास और जनता के हितो के लिये सदैव संघर्षरत रहते थे। उनका जाना कांग्रेस पार्टी के लिये एक बड़ी क्षति है।’ पूर्व सीएम कमलनाथ ने दुख की इस घड़ी में शोक संतप्त परिवार के प्रति शोक संवेदनाएं व्यक्त करते हुए ईश्वर से उन्हें अपने श्रीचरणों में स्थान देने एवं पीछे परिजनों को यह दु:ख सहने की शक्ति प्रदान करने की प्रार्थना की है।   वहीं, कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह ने ट्वीट कहते हुए कहा कि -‘मेरे परिवार के सदस्य गोवर्धन दांगी जी के दुखद निधन से मुझे निजी क्षति हुई है। वे ईमानदार कर्तव्यनिष्ट धार्मिक प्रवृत्ति के व्यक्ति थे। कभी सोचा भी नहीं था वे इतनी जल्दी चले जाएंगे। उनके परिवार जनों को संवेदनाएं। ईश्वर उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें।’

Dakhal News

Dakhal News 15 September 2020


bhopal, Corona-infected ,Congress MLA ,Govardhan Dangi died

भोपाल। मध्य प्रदेश के राजगढ़ जिले की ब्यावरा विधानसभा सीट से कांग्रेस विधायक गोवर्धन दांगी (63 वर्ष) का मंगलवार तडक़े निधन हो गया। पिछले दिनों विधायक दांगी  कोरोना संक्रमित पाए गए थे। इसके अलावा उनकी पत्नी और बेटे भी कोरोना संक्रमित पाए गए हैं। लगातार तबीयत बिगडऩे पर उन्हें ईलाज के लिए दिल्ली के मेदांता अस्पताल में भर्ती कराया गया था। बताया जा रहा है कि मंगलवार सुबह दिल का दौरा पडऩे के बाद उनका निधन हो गया। गोवर्धन दांगी के निधन का समाचार मिलते ही पार्टी में शोक की लहर फैल गई है।   जानकारी अनुसार गोवर्धन सिंह दांगी की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आने पर पहले उन्हें भोपाल के चिरायु अस्पताल में भर्ती करवाया गया था। इसके बाद तबियत में सुधार नहीं होने पर उन्हें एयरएंबुलेंस के माध्यम से दिल्ली के मेदांता अस्पतला में भर्ती कराया गया था। वहां पर इलाज के बाद उनका कोरोना टेस्ट भी निगेटिव आ गया था। लेकिन स्वास्थ्य पूरी तरह ठीक नहीं होने के कारण उनका इलाज चल रहा था। इस बीच मंगलवार तडक़े उनका निधन हो गया। दांगी की पार्थिव देह आज शाम तक ब्यावरा लाए जाने की उम्मीद है। उनके परिवार में पत्नी, दो पुत्री और एक पुत्र है।   कांग्रेस नेताओं ने जताया दुखकांग्रेस विधायक गोवर्धन दांगी के आकस्मिक निधन पर कांग्रेस नेताओं ने शोक जताया है। पूर्व मंत्री सज्जन सिंह वर्मा समेत जीतू पटवारी और अन्य नेताओं ने दांगी के निधन को पार्टी के लिए अपूरणीय क्षति बताया है।

Dakhal News

Dakhal News 15 September 2020


ashoknagar, I come again , meet the public, do not come, Kamal Nath,Shivraj

अशोकनगर। जिले में होने वाले दो उप चुनावों के मद्देनजर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती के साथ सोमवार को मुंगावली में पहला चुनावी दौरा हुआ। इस अवसर शिवराज सिंह चौहान ने करोड़ों के भूमि पूजन और लोकार्पण किए पर इस बार कोई चुनावी नई घोषणा नहीं की गई।   मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि में बार-बार मुंगावली की जनता से मिलने आता हूँ लेकिन पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ आज तक यहाँ की जनता से मिलने नहीं आये। सुना है कल एक सोयाबीन के खेत में पहुंच गये थे। जब मुख्यमंत्री थे तब तो कभी दु:ख-दर्द बाँटने नहीं गए! उन्होंने कहा कि मुंगावली के आसपास के क्षेत्रों में जितने जनता के विकास के कार्य भारतीय जनता पार्टी की सरकार ने किए, कांग्रेस उतना कभी नहीं कर पाई। एक तरफ विकास और दूसरी तरफ जनता के कल्याण के काम हमने किये। कांग्रेस ने कर्ज माफी का वादा नहीं निभाया, युवाओं को बेरोजगारी भत्ता नहीं दिया, गरीबों के कल्याण की योजनाएं बंद कर दी।    उन्होंने कहा कि जिन्हें कर्जमाफी का सर्टिफिकेट दिया, उनका पैसा भी बैंकों को कमलनाथ जी ने नहीं दिया। बैंक वो पैसा मुझसे मांग रहे हैं। हमने गरीब को एक रुपये किलो गेहूं, चावल, नमक देने की योजना बनाई। इस योजना को कमलनाथ सरकार ने ठंडे बस्ते में डाल दिया था।16 सितंबर से हर गरीब को राशन देने का काम प्रारम्भ किया जायेगा। किसी गरीब को भूखा नहीं सोने दूंगा।    शिवराज सिंह ने कहा कि मेरे स्ट्रीट वेंडर भाई-बहनों, आपको 10 हजार रुपये काम-धंधा शुरू करने के लिए दिया जा रहा है। इस लोन की गारंटी और ब्याज भी सरकार भरेगी। गरीब परिवारों के बच्चों की इंजीनियरिंग, मेडिकल, आईआईएम जैसी उच्च शिक्षा की फीस हमारी सरकार भरवाती थी, लेकिन कमलनाथ ने हमारे भांजे-भांजियों के कल्याण की इस योजना को भी बंद कर दिया। हमने इस योजना को फिर से प्रारम्भ कर दिया है।   उन्होंने कहा कि मैं गरीब बेटियों की शादी के लिए रु. 25,000 की राशि देता था। कमलनाथ जी ने 51 हजार रुपया देने का वादा किया। बेटियों की शादी हो गई, उनके बच्चे भी हो गए, लेकिन उनको यह राशि आज तक नहीं मिली। मेरे भाई-बहनों, भारतीय जनता पार्टी की यह सरकार गरीबों के कल्याण और प्रदेश के विकास के लिए है। आपसे आग्रह करने आया हूं कि भाजपा को भारी मतों से विजयी होने का आशीर्वाद दीजिए।

Dakhal News

Dakhal News 14 September 2020


bhopal, Responsible silence, work continues,make disaster ,opportunity , Kamal Nath

भोपाल। मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने भाजपा सरकार पर गंभीर आरोप लगाए है। उन्होंने ट्वीट कर यूरिया की कालाबाजारी, चावल वितरण में हेराफेरी और मेडिकल ऑक्सिजन की मांग व पूर्ति को लेकर प्रदेश सरकार पर आपदा में अवसर तलाशने और जिम्मेेदारों की खामोशी पर सवाल उठाते हुए कटाक्ष किया है।   कमलनाथ ने ट्वीट कर कहा ‘मध्यप्रदेश में आपदा को अवसर बनाने का काम निरंतर जारी है। कोरोना महामारी में भी यूरिया की कालाबाज़ारी, चावल वितरण में हेराफेरी के बाद अब ऑक्सिजन में मुनाफाखोरी का खेल शुरू। भाजपा सरकार पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि ‘पूर्व में 15 वर्ष की सरकार में भी प्रदेश को ऑक्सीजन की आपूर्ति को लेकर आत्मनिर्भर नहीं बना पाये और अभी 6 माह की सरकार में भी संकट को देखते हुए ऑक्सीजन की माँग व आपूर्ति को लेकर कोई ठोस कदम नहीं उठाये और अब संकट होने पर नींद से जागे? एक अन्य ट्वीट कर उन्होंने कहा ‘शिवराज सरकार में अब प्रदेश में ऑक्सीजन के संकट को देखते हुए मुनाफाखोरी का खेल शुरू, दाम बढ़े, संकट का फ़ायदा उठाया जा रहा है, पहले संकट और फिर मुनाफ़ाख़ोरी। जिम्मेदार मौन, प्रदेश को कहाँ ले जा रहे है ? आपदा में भी अवसर तलाशे जा रहे हैं।

Dakhal News

Dakhal News 14 September 2020


bhopal, Hitanand made ,BJP

भोपाल। प्रदेश की 27 विधानसभा सीटों पर होने वाले उपचुनाव से पहले भारतीय जनता पार्टी संगठन को मजबूती देने में जुट गई है। पार्टी ने संघ प्रचारक हितानंद को मध्यप्रदेश भाजपा का प्रदेश सह संगठन महामंत्री बनाया है। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने यह नियुक्ति की है। हितानंद 1995 से आरएसएस में प्रचारक हैं और उन्हें जबलपुर की जिम्मेदारी मिल सकती है।   नए सह संगठन महामंत्री हितानंद विद्या भारती मध्यभारत प्रांत के संगठन मंत्री भी रहे। इससे पहले  शिवपुरी और विदिशा में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के विभाग प्रचारक रह चुके हैं। पूर्व प्रदेश सह संगठन महामंत्री और आरएसएस के प्रचारक अतुल राय को भाजपा से आरएसएस में वापस भेजे जाने के बाद से ही यह पद खाली चल रहा था। हितानंद भाजपा के प्रदेश संगठन महामंत्री सुहास भगत को सहयोग करेंगे।

Dakhal News

Dakhal News 14 September 2020


bhopal, Former MP ,Alok Sanjar ,Congress MLA, Sajjan Singh Verma, corona infected

भोपाल। भाजपा के वरिष्ठ नेता और भोपाल से पूर्व सांसद आलोक संजर कोरोना संक्रमित हो गए हैं। वहीं, कमलनाथ सरकार में पीडब्ल्यूडी मंत्री रहे कांग्रेस विधायक सज्जन सिंह वर्मा भी कोरोना संक्रमित पाए गए हैं। रविवार को भोपाल में दोनों की जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आई है।    पूर्व सांसद आलोक संजर ने शनिवार को बुखार आने और गले में दर्द होने पर टेस्ट कराया था। रविवार को उनकी जांच रिपोर्ट आने के बाद उन्होंने डॉक्टरों की सलाह पर खुद को घरेलू एकांतवास कर लिया है। वहीं, कांग्रेस विधायक सज्जन सिंह वर्मा ने भी शनिवार को तबियत खराब होने के बाद भोपाल में अपना कोरोना टेस्ट कराया था। रविवार सुबह उनकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई। इसके बाद उन्होंने खद को घरेलू एकांतवास किया। दोनों नेताओं ने अपने सम्पर्क में आने वाले लोगों से कोरोना जांच कराने और एकांतवास होने की अपील की है।   आईएमए जबलपुर जोन के अध्यक्ष डॉ क्षितिज भटनागर का कोरोना से निधन   वहीं, इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) जबलपुर जोन के अध्यक्ष डॉ. क्षितिज भटनागर का कोरोना से रविवार को निधन हो गया। उनके रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आने के बाद उन्हें इलाज के लिए भोपाल के चिरायु अस्पताल में भर्ती किया गया था, जहां रविवार सुबह उपचार के दौरान उनकी मौत हो गई। उनके निधन की खबर से जबलपुर में शोक की लहर छा गई।

Dakhal News

Dakhal News 13 September 2020


bhopal, Former MP ,Alok Sanjar ,Congress MLA, Sajjan Singh Verma, corona infected

भोपाल। भाजपा के वरिष्ठ नेता और भोपाल से पूर्व सांसद आलोक संजर कोरोना संक्रमित हो गए हैं। वहीं, कमलनाथ सरकार में पीडब्ल्यूडी मंत्री रहे कांग्रेस विधायक सज्जन सिंह वर्मा भी कोरोना संक्रमित पाए गए हैं। रविवार को भोपाल में दोनों की जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आई है।    पूर्व सांसद आलोक संजर ने शनिवार को बुखार आने और गले में दर्द होने पर टेस्ट कराया था। रविवार को उनकी जांच रिपोर्ट आने के बाद उन्होंने डॉक्टरों की सलाह पर खुद को घरेलू एकांतवास कर लिया है। वहीं, कांग्रेस विधायक सज्जन सिंह वर्मा ने भी शनिवार को तबियत खराब होने के बाद भोपाल में अपना कोरोना टेस्ट कराया था। रविवार सुबह उनकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई। इसके बाद उन्होंने खद को घरेलू एकांतवास किया। दोनों नेताओं ने अपने सम्पर्क में आने वाले लोगों से कोरोना जांच कराने और एकांतवास होने की अपील की है।   आईएमए जबलपुर जोन के अध्यक्ष डॉ क्षितिज भटनागर का कोरोना से निधन   वहीं, इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) जबलपुर जोन के अध्यक्ष डॉ. क्षितिज भटनागर का कोरोना से रविवार को निधन हो गया। उनके रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आने के बाद उन्हें इलाज के लिए भोपाल के चिरायु अस्पताल में भर्ती किया गया था, जहां रविवार सुबह उपचार के दौरान उनकी मौत हो गई। उनके निधन की खबर से जबलपुर में शोक की लहर छा गई।

Dakhal News

Dakhal News 13 September 2020


bhopal, Avoiding government, intervention, made housing scheme

भोपाल। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 'गृह प्रवेशम्' का शुभारंभ कर शनिवार को मध्यप्रदेश के पौने दो लाख प्रधानमंत्री आवास योजना में हितग्राहियों को आवास उपलब्ध करवाया। ऑनलाइन गृह प्रवेश कार्यक्रम के माध्यम से मध्यप्रदेश में प्रधानमंत्री आवास योजना के शानदार क्रियान्वयन का साक्षी आज पूरा देश बना। प्रधानमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री आवास योजना को अनावश्यक सरकारी दखल से बचाकर इन्द्रधनुषी स्वरूप दिया गया है। योजना में लाभान्वित हितग्राहियों के लिए इस वर्ष त्योहारों की खुशियां ज्यादा होंगी। आपके जीवन की इतनी बड़ी खुशी में शामिल होने मैं स्वयं प्रत्यक्ष आता, लेकिन कोरोना ने विवश कर दिया। प्रधानमंत्री ने धार जिले के गुलाब सिंह आदिवासी, सिंगरौली जिले के प्यारेलाल यादव और ग्वालियर के नरेन्द्र नामदेव से बातचीत की।   प्रधानमंत्री ने कहा कि आवास योजना में आमतौर पर एक मकान के निर्माण में 125 दिन लगते हैं। मध्यप्रदेश में बहुत से मकान सिर्फ 45 से 60 दिन में बन गए। मध्यप्रदेश में जिस गति से यह कार्य हुआ है, वह अपने आप में एक रिकार्ड है। मध्यप्रदेश में 1.75 लाख आवासों का निर्माण एक बड़ी उपलब्धि है। यह गति रही तो वर्ष 2022 तक देश के हर परिवार को घर देने के लक्ष्य को प्राप्त करने में कोई दिक्कत नहीं होगी। मध्यप्रदेश का इसमें महत्वपूर्ण योगदान रहेगा।   इस मौके पर मुरैना से कार्यक्रम में वीडियो कान्फ्रेंस द्वारा शामिल हुए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रधानमंत्री मोदी का स्वागत किया। वर्चुअल कार्यक्रम में मध्यप्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल, केन्द्रीय पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर, मध्यप्रदेश के पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री महेन्द्र सिंह सिसोदिया, केन्द्रीय ग्रामीण विकास राज्यमंत्री साध्वी निरंजन ज्योति, सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया भी शामिल हुए। मध्यप्रदेश के आवास पाने वाले हितग्राहियों से प्रधानमंत्री ने आत्मीयता पूर्वक बातचीत भी की।      प्रधानमंत्री ने सराहा हल्मा पद्धति से बना घर   प्रधानमंत्री ने धार जिले के गुलाब सिंह आदिवासी से स्थानीय बोली में संवाद आरंभ किया। उन्होंने गुलाब सिंह की अच्छा घर बनाने के लिए तारीफ की। प्रधानमंत्री ने उनके स्वास्थ्य की जानकारी ली, तो गुलाब सिंह ने कहा कि मेरा कुछ दिन से स्वास्थ्य ठीक नहीं है। अत: मेरी ओर से मेरा बेटा बात करेगा। गुलाब सिंह के सुपुत्र मेरु ने बताया कि अंचल में प्रचलित हल्मा परंपरा से उन्होंने आवास निर्माण किया है। इसमें गांव के लोग मिलकर मकान बनाने का काम करते हैं और जिसका मकान बन रहा होता है, वह सबको भोजन करता है। प्रधानमंत्री ने इस परंपरा की प्रशंसा करते हुए कहा कि शासकीय पहल और सामाजिक सहयोग की यह अनोखी मिसाल है। इसमें गांव के सभी लोगों की दक्षता का उपयोग होता है। यह जीवन को सरल बनाने का व्यवाहरिक उपाय है। सरकार भी गरीबों के सपने पूरे करने के लिए इस पद्धति पर कार्य कर रही है। प्रधानमंत्री ने गुलाब सिंह के आवास पर हुई चित्रकारी की प्रशंसा की। गुलाब सिंह ने बताया कि यह मांडना है जिसे इस अंचल में घर की साज-सज्जा के लिए बनाया जाता है।   प्रधानमंत्री ने पूछा- कहीं लेनदेन तो नहीं करना पड़ा   प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने सिंगरौली जिले के बेढन के ग्राम पंचायत गडेरिया के प्यारेलाल यादव से भी बातचीत की। प्रधानमंत्री ने पूछा की गृह प्रवेश के मौके पर खाने में क्या बना है। आवास बनाने में कोई परेशानी तो नहीं आई। कहीं लेनदेन तो नहीं करना पड़ा, बैंक के कितने चक्कर काटे, इस पर यादव ने बताया कि बिना चक्कर काटे समय पर किश्त हमारे खाते में आती रही और मकान बनाने के लिए जरूरी तकनीकी मार्गदर्शन भी मिलता रहा। यादव ने प्रधानमंत्री को बताया कि उन्होंने अपना घर फ्लायी एश (राखड़) की ईटों से बनाया है। यह किफायती भी रहा और सामान्य ईंट की तुलना में अधिक मजबूत भी है। प्रधानमंत्री ने इस नवाचार की प्रशंसा की और यादव से उनके बच्चों की पढ़ाई-लिखाई की जानकारी भी ली।   कच्चे मकान में सर्पदंश से हुई थी बेटे की मौत, पक्के मकान ने दी प्रसन्नता   प्रधानमंत्री ने ग्वालियर जिले के योजना के हितग्राही नरेन्द्र नामदेव से भी बातचीत की। नामदेव ने बताया कि कच्चे मकान में उनके बेटे की सांप काटने से असमायिक मृत्यु हो गई थी। वो दु:ख बहुत बड़ा था लेकिन आज बहुत खुशी मिल रही है। मैं गांव के बच्चों के लिए गणवेश तैयार करता हूँ मेरी पत्नी भी सिलाई करती है हम लोगों ने जिला पंचायत के माध्यम से 8 दिन का सिलाई प्रशिक्षण भी प्राप्त किया है। प्रधानमंत्री ने कहा कि आपको चश्मा लगा है इससे मुझे ध्यान आया कि मेरी दादी कहती थी आँखों के कसरत के लिए सुई-धागे का उपयोग करना चाहिए। आप सिलाई कार्य करते हैं जिससे यह कार्य अपने आप हो जाता है। प्रधानमंत्री ने नामदेव के मकान को देखकर पूछा कि दीवारों पर किए गए रंग का चयन किसने किया है? नामदेव ने बताया कि पत्नी अनिता ने यह रंग चुना। नामदेव दंपति ने प्रधानमंत्री को घर आने का आमंत्रण भी दिया, जिसके उत्तर में प्रधानमंत्री ने कहा कि वे जरूर आएंगे।   गरीब के आत्मनिर्भर होने से निकलेगा, आत्मनिर्भर भारत का रास्ता   प्रधानमंत्री मोदी ने हितग्राहियों से बातचीत के बाद उन्हें बधाई और शुभकामनाएं देते हुए कहा कि आज से इन सभी हितग्राहियों का नया जीवन प्रारंभ हो रहा है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री आवास योजना सिर्फ मकान नहीं आत्मविश्वास भी देती है। आपदा को अवसर में बदला गया है। यह जनता को विश्वास देने वाला कार्यक्रम है। आज का दिन करोड़ों लोगों को भरोसा दिलवाता है कि योजनाएं सही ढंग से लागू होती हैं। ये घर आपके बेहतर भविष्य का आधार होगा, आप सभी नए जीवन की शुरुआत कीजिए। प्रधानमंत्री ने हितग्राहियों से कहा अन्य योजनाओं का लाभ लेने के लिए भी सजग रहें। यह सजगता और सक्रियता आपको आत्मनिर्भर बनाने के साथ-साथ आत्मनिर्भर भारत के निर्माण का पथ प्रशस्त करेगी।    पारदर्शिता और सहभागिता आवास योजना की विशेषता   प्रधानमंत्री ने कहा कि इस योजना की सफलता का आधार है योजना का पारदर्शी होना। पहले भी घर बनते थे, दशकों से योजनाएं लागू हैं। आजादी के बाद से ही आवास बन रहे हैं, लेकिन करोड़ों लोगों को घर देने का लक्ष्य पूर्ण नहीं होता था। अब हितग्राही आवास निर्माण का हिस्सा है। उन्होंने कहा कि आवास के साथ ग्रामीण क्षेत्रों में पशुओं के लिए शेड भी बन रहे हैं। ग्रामीण सडक़ें भी बन रही हैं और अन्य कार्य भी तेजी से हो रहे हैं। शहरी क्षेत्र से ग्रामों में लौटे श्रमिकों को रोजगार भी मिला है। प्रधानमंत्री गरीब कल्याण रोजगार अभियान को गति मिली है। आवास योजना में पहले निर्मित घरों में लोग शिफ्ट नहीं होते थे। पुराने अनुभव देखे गए और नई सोच से योजना लागू की गई। इसे अनावश्यक सरकारी दखल से बचाकर अब पारदर्शी प्रक्रिया से कार्य हो रहा है।   मध्यप्रदेश ने आवास से 27 योजनाओं को जोड़ा   प्रधानमंत्री ने कहा मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आवास योजना के क्रियान्वयन पर विशेष ध्यान देते हुए 27 अन्य योजनाओं को भी जोड़ा है। जिसके फलस्वरूप प्रधानमंत्री आवास योजना के साथ-साथ गरीब हितग्राही को उज्जवला, उजाला, स्वच्छ शौचालय और आयुष्मान भारत आदि योजनाओं का लाभ भी मिला है। प्रधानमंत्री ने आवास योजना के अच्छे क्रियान्वयन के लिए मुख्यमंत्री चौहान को बधाई दी।   ऑप्टिकल फायबर की क्रांति   प्रधानमंत्री ने कहा कि देश में इंटरनेट स्पीड बढ़ाने के प्रयास हुए जिनका लाभ मिल रहा है। ऑप्टिकल फायबर पहुंचने से सेवाएं बेहतर हो रही हैं। देश में 116 जिलों में 19 हजार किलोमीटर का जाल बिछा दिया गया है। मध्यप्रदेश में भी 1300 किलोमीटर का कार्य पूरा हो गया है, जो सराहनीय है। देश के 6 लाख गांव में ऑप्टिकल फायबर बिछाने के लक्ष्य के मुकाबले 2.5 लाख ग्रामों तक यह कार्य पूरा हो गया है। इसे गांव-गांव पहुंचाने के लक्ष्य पर कार्य किया जा रहा है।   कोरोना संक्रमण से बचने के लिए सावधानियाँ न छोड़ें   प्रधानमंत्री ने आव्हान किया कि कोरोना के संक्रमण की समस्या समाप्त नहीं हुई है। हर व्यक्ति को चाहिए कि वो स्वच्छता का पूरा ध्यान रखे। कोरोना संक्रमण को दूर करने की दवाई अर्थात वैक्सीन जब तक नहीं आती तब-तक ढिलाई नहीं होना चाहिए। मास्क का उपयोग करें। परस्पर दो गज की दूरी अवश्य रखें।

Dakhal News

Dakhal News 12 September 2020


gwalior, Chief Minister ,announces opening , Medical College,Morena

ग्वालियर। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शनिवार को मुरैना प्रवास के दौरान जिले को बड़ी-बड़ी सागातें दीं। उन्होंने कहा कि मुरैना में मेडीकल कॉलेज खोला जायेगा, जिससे मुरैना सहित पूरे जिले को बेहतर से बेहतर आधुनिक चिकित्सा सुविधायें मिल सकेंगी। उन्होंने मुरैना शहर की पेयजल आपूर्ति के लिए 135 करोड़ रुपये की चंबल परियोजना को मंजूरी देने, शहर में पूर्व प्रधानमंत्री स्व. अटल बिहारी वाजपेयी के नाम से शानदार सभागार का निर्माण और जिले के रिठौरा में महाविद्यालय खोलने की घोषणा भी की।   मुरैना शहर एवं ग्रामीण के सुनियोजित विकास के लिये मंजूर हुए 268 करोड़ 59 लाख रुपये लागत के 27 विकास कार्यों का लोकार्पण एवं भूमिपूजन मुख्यमंत्री ने केन्द्रीय कृषि, पंचायतीराज एवं ग्रामीण विकास मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर एवं राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया के साथ किया। जिनमें 184 करोड़ 60 लाख रुपये लागत के 8 विकास कार्यों का लोकार्पण एवं लगभग 84 करोड़ रुपये लागत के विकास कार्यों का भूमिपूजन शामिल है। मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर विभिन्न हितग्राहियों को सरकार की कल्याणकारी योजनाओं के तहत सहायता भी वितरित की।   कार्यक्रम में मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि केन्द्र व राज्य सरकार मिलकर विकास की नई इबारत लिख रही हैं। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत पौने दो लाख लोगों को पक्के घरों में गृह प्रवेश कराया है। विकास की यह श्रृंखला जारी रहेगी। केन्द्रीय मंत्री तोमर की पहल पर चंबल क्षेत्र के चहुँमुखी विकास के लिये साढ़े 8 हजार करोड़ रुपये की चंबल अटल प्रोग्रेस-वे परियोजना को सैद्धांतिक मंजूरी मिल चुकी है। अटल प्रोग्रेस-वे केवल एक सडक़ भर नहीं होगी, इसके दोनों ओर इंडस्ट्रीयल कोरीडोर स्थापित होगा। जिसके जरिए हजारों युवाओं को रोजगार मिलेगा। केन्द्रीय मंत्री तोमर के प्रयासों से ही भिण्ड व मुरैना जिले की सीमा पर सैनिक स्कूल खुलने जा रहा है।   मुख्यमंत्री ने दोहराया कि प्रदेश सरकार इस मूल मंत्र के साथ काम कर रही है कि गरीब की थाली कभी न रहे खाली। इसके लिये सरकार 16 सितम्बर को महाअभियान के माध्यम से शेष गरीब परिवारों को एक रुपये प्रतिकिलो की दर से राशन देना शुरू कर देगी। उन्होंने कार्यक्रम में मौजूद जनप्रतिनिधियों एवं अधिकारियों से कहा कि जिले में ढूंढ-ढूंढकर सभी शेष पात्र परिवारों का पता लगाएँ जिससे एक भी परिवार इस योजना से वंचित न रहे। मुख्यमंत्री ने बताया कि सरकार ने सरकारी नौकरियों की भर्ती पर लगी रोक हटा दी है। जल्द ही पुलिस में भर्ती शुरू होगी। नौजवानों को रोजगार के अन्य अवसर मुहैया कराने के लिये भी सरकार पूरी शिद्दत के साथ काम कर रही है। बंद कर दी गईं जनहित की तमाम योजनायें सरकार ने फिर से शुरू कर दी हैं।   मुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि सरकार फुटपाथ पर काम धंधा करने वाले मसलन बूट पॉलिस, सब्जी-फल बेचने वाले, दाड़ी बनाने वाले, कचौड़ी-समौसे बेचने वाले तथा रेढ़ी के जरिए अन्य छोटे मोटे काम धंधे करने वाले लोगों को 10-10 हजार रुपये की आर्थिक सहायता बिना ब्याज के मुहैया करा रही है। जिससे ये सभी लोग बेहतर ढंग से अपना काम धंधा कर सकें। बिजली बिल का बोझ कम करने के लिये पिछले बिजली के बिल स्थगित कर दिए हैं। अगले माह लोगों को केवल सितम्बर माह का बिल देना होगा। उन्होंने यह भी कहा कि प्रदेश में किसान हितैषी सरकार काबिज है। सरकार इसी माह 18 सितम्बर को 20 लाख 4 हजार किसानों के खातों में फसल बीमा की 4 हजार 600 करोड़ रुपये की राशि जमा कराने जा रही है। सरकार ने बड़े पैमाने पर किसानों से समर्थन मूल्य पर सरसों, गेहूँ इत्यादि फसलों की खरीदी की है।   केन्द्रीय कृषि मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने कहा कि केन्द्र व राज्य सरकार लोगो की समस्याओं के समाधान व प्रदेश के विकास के लिये पूरी ईमानदारी के साथ काम कर रही है। मुरैना जिले के सुनियोजित विकास में भी नित नए अध्याय जुड़ रहे हैं। उन्होंने खासतौर पर मुरैना शहर में आगरा-मुम्बई राष्ट्रीय राजमार्ग पर फ्लाईओवर ब्रिज, मुरैना को नगर पालिका से नगर निगम बनाने, नवीन कलेक्ट्रेट व शहीद भवन का निर्माण, गाँव-गाँव में सडक़ों का जाल, अटेर से लेकर श्योपुर मार्ग की राष्ट्रीय राजमार्ग में तब्दीली, मुरैना की पेयजल समस्या के समाधान के लिये अमृत योजना का जिक्र किया। उन्होंने मुरैना में मेडीकल कॉलेज व अटल बिहारी वाजपेयी सभागार बनाने की मांग मुख्यमंत्री चौहान से की, जिसे मुख्यमंत्री ने सहर्ष स्वीकार कर लिया।   राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि मुख्यमंत्रीचौहान के पास संकट का समाधान करने के लिये बेहतर कार्यप्रणाली है तथा वे एक सच्चे जनसेवक तो हैं ही, साथ ही विकासोन्मुखी सोच भी रखते हैं। इसी वजह से कि हम सबकी उम्मीदों के अनुरूप उन्होंने मुरैना के सीतापुर औद्योगिक क्षेत्र के विकास के लिये 101 करोड़ रुपये की सौगात दी है। इसी तरह पिपरसेवा में 55 करोड़ की योजना, नवीन कलेक्ट्रेट भवन, नूराबाद में 50 बिस्तरों का सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र और चंबल प्रोजेक्ट जैसी परियोजनाओं को उन्होंने मंजूरी दी है।

Dakhal News

Dakhal News 12 September 2020


gwalior, Chief Minister ,announces opening , Medical College,Morena

ग्वालियर। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शनिवार को मुरैना प्रवास के दौरान जिले को बड़ी-बड़ी सागातें दीं। उन्होंने कहा कि मुरैना में मेडीकल कॉलेज खोला जायेगा, जिससे मुरैना सहित पूरे जिले को बेहतर से बेहतर आधुनिक चिकित्सा सुविधायें मिल सकेंगी। उन्होंने मुरैना शहर की पेयजल आपूर्ति के लिए 135 करोड़ रुपये की चंबल परियोजना को मंजूरी देने, शहर में पूर्व प्रधानमंत्री स्व. अटल बिहारी वाजपेयी के नाम से शानदार सभागार का निर्माण और जिले के रिठौरा में महाविद्यालय खोलने की घोषणा भी की।   मुरैना शहर एवं ग्रामीण के सुनियोजित विकास के लिये मंजूर हुए 268 करोड़ 59 लाख रुपये लागत के 27 विकास कार्यों का लोकार्पण एवं भूमिपूजन मुख्यमंत्री ने केन्द्रीय कृषि, पंचायतीराज एवं ग्रामीण विकास मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर एवं राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया के साथ किया। जिनमें 184 करोड़ 60 लाख रुपये लागत के 8 विकास कार्यों का लोकार्पण एवं लगभग 84 करोड़ रुपये लागत के विकास कार्यों का भूमिपूजन शामिल है। मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर विभिन्न हितग्राहियों को सरकार की कल्याणकारी योजनाओं के तहत सहायता भी वितरित की।   कार्यक्रम में मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि केन्द्र व राज्य सरकार मिलकर विकास की नई इबारत लिख रही हैं। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत पौने दो लाख लोगों को पक्के घरों में गृह प्रवेश कराया है। विकास की यह श्रृंखला जारी रहेगी। केन्द्रीय मंत्री तोमर की पहल पर चंबल क्षेत्र के चहुँमुखी विकास के लिये साढ़े 8 हजार करोड़ रुपये की चंबल अटल प्रोग्रेस-वे परियोजना को सैद्धांतिक मंजूरी मिल चुकी है। अटल प्रोग्रेस-वे केवल एक सडक़ भर नहीं होगी, इसके दोनों ओर इंडस्ट्रीयल कोरीडोर स्थापित होगा। जिसके जरिए हजारों युवाओं को रोजगार मिलेगा। केन्द्रीय मंत्री तोमर के प्रयासों से ही भिण्ड व मुरैना जिले की सीमा पर सैनिक स्कूल खुलने जा रहा है।   मुख्यमंत्री ने दोहराया कि प्रदेश सरकार इस मूल मंत्र के साथ काम कर रही है कि गरीब की थाली कभी न रहे खाली। इसके लिये सरकार 16 सितम्बर को महाअभियान के माध्यम से शेष गरीब परिवारों को एक रुपये प्रतिकिलो की दर से राशन देना शुरू कर देगी। उन्होंने कार्यक्रम में मौजूद जनप्रतिनिधियों एवं अधिकारियों से कहा कि जिले में ढूंढ-ढूंढकर सभी शेष पात्र परिवारों का पता लगाएँ जिससे एक भी परिवार इस योजना से वंचित न रहे। मुख्यमंत्री ने बताया कि सरकार ने सरकारी नौकरियों की भर्ती पर लगी रोक हटा दी है। जल्द ही पुलिस में भर्ती शुरू होगी। नौजवानों को रोजगार के अन्य अवसर मुहैया कराने के लिये भी सरकार पूरी शिद्दत के साथ काम कर रही है। बंद कर दी गईं जनहित की तमाम योजनायें सरकार ने फिर से शुरू कर दी हैं।   मुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि सरकार फुटपाथ पर काम धंधा करने वाले मसलन बूट पॉलिस, सब्जी-फल बेचने वाले, दाड़ी बनाने वाले, कचौड़ी-समौसे बेचने वाले तथा रेढ़ी के जरिए अन्य छोटे मोटे काम धंधे करने वाले लोगों को 10-10 हजार रुपये की आर्थिक सहायता बिना ब्याज के मुहैया करा रही है। जिससे ये सभी लोग बेहतर ढंग से अपना काम धंधा कर सकें। बिजली बिल का बोझ कम करने के लिये पिछले बिजली के बिल स्थगित कर दिए हैं। अगले माह लोगों को केवल सितम्बर माह का बिल देना होगा। उन्होंने यह भी कहा कि प्रदेश में किसान हितैषी सरकार काबिज है। सरकार इसी माह 18 सितम्बर को 20 लाख 4 हजार किसानों के खातों में फसल बीमा की 4 हजार 600 करोड़ रुपये की राशि जमा कराने जा रही है। सरकार ने बड़े पैमाने पर किसानों से समर्थन मूल्य पर सरसों, गेहूँ इत्यादि फसलों की खरीदी की है।   केन्द्रीय कृषि मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने कहा कि केन्द्र व राज्य सरकार लोगो की समस्याओं के समाधान व प्रदेश के विकास के लिये पूरी ईमानदारी के साथ काम कर रही है। मुरैना जिले के सुनियोजित विकास में भी नित नए अध्याय जुड़ रहे हैं। उन्होंने खासतौर पर मुरैना शहर में आगरा-मुम्बई राष्ट्रीय राजमार्ग पर फ्लाईओवर ब्रिज, मुरैना को नगर पालिका से नगर निगम बनाने, नवीन कलेक्ट्रेट व शहीद भवन का निर्माण, गाँव-गाँव में सडक़ों का जाल, अटेर से लेकर श्योपुर मार्ग की राष्ट्रीय राजमार्ग में तब्दीली, मुरैना की पेयजल समस्या के समाधान के लिये अमृत योजना का जिक्र किया। उन्होंने मुरैना में मेडीकल कॉलेज व अटल बिहारी वाजपेयी सभागार बनाने की मांग मुख्यमंत्री चौहान से की, जिसे मुख्यमंत्री ने सहर्ष स्वीकार कर लिया।   राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि मुख्यमंत्रीचौहान के पास संकट का समाधान करने के लिये बेहतर कार्यप्रणाली है तथा वे एक सच्चे जनसेवक तो हैं ही, साथ ही विकासोन्मुखी सोच भी रखते हैं। इसी वजह से कि हम सबकी उम्मीदों के अनुरूप उन्होंने मुरैना के सीतापुर औद्योगिक क्षेत्र के विकास के लिये 101 करोड़ रुपये की सौगात दी है। इसी तरह पिपरसेवा में 55 करोड़ की योजना, नवीन कलेक्ट्रेट भवन, नूराबाद में 50 बिस्तरों का सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र और चंबल प्रोजेक्ट जैसी परियोजनाओं को उन्होंने मंजूरी दी है।

Dakhal News

Dakhal News 12 September 2020


gwalior, Chief Minister ,announces opening , Medical College,Morena

ग्वालियर। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शनिवार को मुरैना प्रवास के दौरान जिले को बड़ी-बड़ी सागातें दीं। उन्होंने कहा कि मुरैना में मेडीकल कॉलेज खोला जायेगा, जिससे मुरैना सहित पूरे जिले को बेहतर से बेहतर आधुनिक चिकित्सा सुविधायें मिल सकेंगी। उन्होंने मुरैना शहर की पेयजल आपूर्ति के लिए 135 करोड़ रुपये की चंबल परियोजना को मंजूरी देने, शहर में पूर्व प्रधानमंत्री स्व. अटल बिहारी वाजपेयी के नाम से शानदार सभागार का निर्माण और जिले के रिठौरा में महाविद्यालय खोलने की घोषणा भी की।   मुरैना शहर एवं ग्रामीण के सुनियोजित विकास के लिये मंजूर हुए 268 करोड़ 59 लाख रुपये लागत के 27 विकास कार्यों का लोकार्पण एवं भूमिपूजन मुख्यमंत्री ने केन्द्रीय कृषि, पंचायतीराज एवं ग्रामीण विकास मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर एवं राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया के साथ किया। जिनमें 184 करोड़ 60 लाख रुपये लागत के 8 विकास कार्यों का लोकार्पण एवं लगभग 84 करोड़ रुपये लागत के विकास कार्यों का भूमिपूजन शामिल है। मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर विभिन्न हितग्राहियों को सरकार की कल्याणकारी योजनाओं के तहत सहायता भी वितरित की।   कार्यक्रम में मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि केन्द्र व राज्य सरकार मिलकर विकास की नई इबारत लिख रही हैं। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत पौने दो लाख लोगों को पक्के घरों में गृह प्रवेश कराया है। विकास की यह श्रृंखला जारी रहेगी। केन्द्रीय मंत्री तोमर की पहल पर चंबल क्षेत्र के चहुँमुखी विकास के लिये साढ़े 8 हजार करोड़ रुपये की चंबल अटल प्रोग्रेस-वे परियोजना को सैद्धांतिक मंजूरी मिल चुकी है। अटल प्रोग्रेस-वे केवल एक सडक़ भर नहीं होगी, इसके दोनों ओर इंडस्ट्रीयल कोरीडोर स्थापित होगा। जिसके जरिए हजारों युवाओं को रोजगार मिलेगा। केन्द्रीय मंत्री तोमर के प्रयासों से ही भिण्ड व मुरैना जिले की सीमा पर सैनिक स्कूल खुलने जा रहा है।   मुख्यमंत्री ने दोहराया कि प्रदेश सरकार इस मूल मंत्र के साथ काम कर रही है कि गरीब की थाली कभी न रहे खाली। इसके लिये सरकार 16 सितम्बर को महाअभियान के माध्यम से शेष गरीब परिवारों को एक रुपये प्रतिकिलो की दर से राशन देना शुरू कर देगी। उन्होंने कार्यक्रम में मौजूद जनप्रतिनिधियों एवं अधिकारियों से कहा कि जिले में ढूंढ-ढूंढकर सभी शेष पात्र परिवारों का पता लगाएँ जिससे एक भी परिवार इस योजना से वंचित न रहे। मुख्यमंत्री ने बताया कि सरकार ने सरकारी नौकरियों की भर्ती पर लगी रोक हटा दी है। जल्द ही पुलिस में भर्ती शुरू होगी। नौजवानों को रोजगार के अन्य अवसर मुहैया कराने के लिये भी सरकार पूरी शिद्दत के साथ काम कर रही है। बंद कर दी गईं जनहित की तमाम योजनायें सरकार ने फिर से शुरू कर दी हैं।   मुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि सरकार फुटपाथ पर काम धंधा करने वाले मसलन बूट पॉलिस, सब्जी-फल बेचने वाले, दाड़ी बनाने वाले, कचौड़ी-समौसे बेचने वाले तथा रेढ़ी के जरिए अन्य छोटे मोटे काम धंधे करने वाले लोगों को 10-10 हजार रुपये की आर्थिक सहायता बिना ब्याज के मुहैया करा रही है। जिससे ये सभी लोग बेहतर ढंग से अपना काम धंधा कर सकें। बिजली बिल का बोझ कम करने के लिये पिछले बिजली के बिल स्थगित कर दिए हैं। अगले माह लोगों को केवल सितम्बर माह का बिल देना होगा। उन्होंने यह भी कहा कि प्रदेश में किसान हितैषी सरकार काबिज है। सरकार इसी माह 18 सितम्बर को 20 लाख 4 हजार किसानों के खातों में फसल बीमा की 4 हजार 600 करोड़ रुपये की राशि जमा कराने जा रही है। सरकार ने बड़े पैमाने पर किसानों से समर्थन मूल्य पर सरसों, गेहूँ इत्यादि फसलों की खरीदी की है।   केन्द्रीय कृषि मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने कहा कि केन्द्र व राज्य सरकार लोगो की समस्याओं के समाधान व प्रदेश के विकास के लिये पूरी ईमानदारी के साथ काम कर रही है। मुरैना जिले के सुनियोजित विकास में भी नित नए अध्याय जुड़ रहे हैं। उन्होंने खासतौर पर मुरैना शहर में आगरा-मुम्बई राष्ट्रीय राजमार्ग पर फ्लाईओवर ब्रिज, मुरैना को नगर पालिका से नगर निगम बनाने, नवीन कलेक्ट्रेट व शहीद भवन का निर्माण, गाँव-गाँव में सडक़ों का जाल, अटेर से लेकर श्योपुर मार्ग की राष्ट्रीय राजमार्ग में तब्दीली, मुरैना की पेयजल समस्या के समाधान के लिये अमृत योजना का जिक्र किया। उन्होंने मुरैना में मेडीकल कॉलेज व अटल बिहारी वाजपेयी सभागार बनाने की मांग मुख्यमंत्री चौहान से की, जिसे मुख्यमंत्री ने सहर्ष स्वीकार कर लिया।   राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि मुख्यमंत्रीचौहान के पास संकट का समाधान करने के लिये बेहतर कार्यप्रणाली है तथा वे एक सच्चे जनसेवक तो हैं ही, साथ ही विकासोन्मुखी सोच भी रखते हैं। इसी वजह से कि हम सबकी उम्मीदों के अनुरूप उन्होंने मुरैना के सीतापुर औद्योगिक क्षेत्र के विकास के लिये 101 करोड़ रुपये की सौगात दी है। इसी तरह पिपरसेवा में 55 करोड़ की योजना, नवीन कलेक्ट्रेट भवन, नूराबाद में 50 बिस्तरों का सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र और चंबल प्रोजेक्ट जैसी परियोजनाओं को उन्होंने मंजूरी दी है।

Dakhal News

Dakhal News 12 September 2020


bhopal, Anita Namdev ,invites PM, , Gulab Singh in fun

भोपाल। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा आवास योजना के 1.75 लाख हितग्राहियों का गृहप्रवेश प्रदेश के उन लोगों के लिये यादगार पल बन गया, जिन्हें इस दौरान प्रधानमंत्री मोदी से बातचीत करने का सौभाग्य मिला। इनमें से एक भितरवार की अनिता नामदेव हैं, जिन्होंने प्रधानमंत्री को उनके घर आने का निमंत्रण दिया है। वहीं, दूसरे अमझेरा के गुलाबसिंह हैं, जिनसे प्रधानमंत्री ने उनके हालचाल पूछे।    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत बने 1.75 लाख आवासों का गृहप्रवेश कराया। डिजिटल प्लेटफार्म पर आयोजित इस कार्यक्रम में मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान भी उपस्थित थे। इस दौरान प्रधानमंत्री ने हितग्राहियों से आत्मीय चर्चा भी की। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से बात होगी यह सोचकर भितरवार क्षेत्र के भोरी गांव निवासी हितग्राही अनीता पत्नी नरेंद्र नामदेव समय से पहले कार्यक्रम स्थल पर पहुंच गए थे। जहां पीएम मोदी ने पहले उनका हालचाल जाना। पीएम मोदी ने अनीता से कहा कि कैसा लग रहा है आज घर में क्या बनाया है। इस से उत्साहित होकर अनीता ने कहा कि हम बेहद खुश हैं। मैं आपका निमंत्रण करती हूं आप आएंगे या नहीं,  सिर्फ हां या ना में जवाब दीजिए। तब प्रधानमंत्री ने कहा कि आपने मुझे आमंत्रित किया है यह मेरा सौभाग्य। जब भी समय मिला तब जरूर आऊंगा। इसके बाद पीएम मोदी ने नरेंद्र नामदेव से कहा कि आप क्या करते हैं आपको चश्मा भी लगा हुआ है। तब नरेंद्र ने कहा कि वह दर्जी है और कपड़े सिलने का काम करते हैं। इसलिए आंखों पर चश्मा लग गया है।   गुलाब भाई राम राम, कसो काई मजा म छेधार जिले के अमझेरा के बीड़ गांव में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पीएम आवास के हितग्राही गुलाबसिंह कौशल को गृहप्रवेश कराया। मोदी ने गुलाब और उसके बेटे से लाइव बात की। पीएम ने कहा गुलाबभाई राम राम....। फिर पीएम बोले कसो काय मजे म छे। गुलाब बोला मज म छे। पीएम ने कहा कि घर बणावा कई आफत तो नहीं आई। गुलाब ने का कि नहीं आई। पीएम पूछा बताए कैसे घर बनाया तो गुलाब ने कहा कि मेरी तबीयत छोड़ी खराब हैं तो मेरा छोरा (बेटा) बताएगा। प्रधानमंत्री ने उनके बेटे से करीब 17 मिनट तक बात की। इस दौरान पीएम ने हलमा पद्धति के बारे में पूछा। कहा कि जिस प्रथा से आपने घर बनाया, यह एक तरह से सामाजिक तालमेल की मिसाल है। बेटे ने बताया कि काम के लिए समाज के लोगों को पैसा नहीं देने होता है, सिर्फ खाना खिलाते हैं। खाने की बात पर पीएम ने मुस्कराते हुए पूछा  कि क्या खाने में मुर्गा खिलाते हैं। जिस पर सभी मुस्करा दिए। गुलाबसिंह के बेटे ने बताया कि खिचड़ी और मक्का की रोटी खिलाते हैं। अच्छी दाल बनाते हैं। बोले अच्छा आप वही खिलाते हैं जो दाहोद वाले खिलाते हैं।

Dakhal News

Dakhal News 12 September 2020


bhopal, Prime Minister, Narendra Modi , provide 1.75 lakh families

भोपाल। मध्यप्रदेश के 1 लाख 75 हजार परिवार शनिवार, 12 सितम्बर को अपने नए आवास में गृह प्रवेश करेंगे। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी इन परिवारों को वर्चुअल आधार पर गृह प्रवेश करायेंगे। इस अवसर पर प्रधानमंत्री का संबोधन भी होगा। यह जानकारी मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान शुक्रवार को सोशल मीडिया के माध्यम से दी है।   मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शुक्रवार को ट्वीट पर एक वीडियो ट्वीट किया है, जिसमें उन्होंने कहा है कि शनिवार, 12 सितम्बर को प्रधानमंत्री आवास योजना ग्रामीण के अंतर्गत 12 हजार गांवों में निर्मित 1 लाख 75 हजार आवासों के लिए गृह प्रवेशम् कार्यक्रम आयोजित होगा, जिसमें प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी हितग्राहियों को गृह प्रवेश कराएंगे। यह दिन इन परिवारों के लिए नये जीवन की शुरुआत का होगा।    गृह प्रवेशम् कार्यक्रम शनिवार को प्रात: 11 बजे आरंभ होगा। मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री आवास योजना के सभी 1 लाख 75 हजार हितग्राहियों से अपील की है कि वे अपने इन नए आवासों में उत्सवपूर्वक प्रवेश करें। गृह प्रवेशम् के इस कार्यक्रम में पंचायत प्रतिनिधि और ग्रामीणजन कोरोना संक्रमण से बचाव की सावधानियों का पालन करते हुए शामिल हों।

Dakhal News

Dakhal News 11 September 2020


bhopal, Digvijay wrote,CM Shivraj, seeking to provide ,crop compensation

भोपाल। मध्य प्रदेश में अतिवर्षा और बाढ़ से 17 लाख किसान प्रभावित हुए है। अतिवर्षा से तबाह हुई फसलों का आकलन करने के लिए केन्द्रीय अध्ययन दल प्रदेश के प्रवास पर आया हुआ है। शुक्रवार को सीएम शिवराज ने केन्द्रीय अध्ययन दल के सदस्यों से मुलाकात कर मध्य प्रदेश में बीते पखवाड़े अतिवर्षा से हुई हानि की विस्तृत जानकारी केन्द्र सरकार को दी है। वहीं पूर्व सीएम और कांग्रेस के राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह ने सीएम शिवराज को पत्र लिखकर किसानों को तत्काल मुआवजा राशि देने की मांग की है।   दिग्विजय सिंह ने अपने पत्र में कहा है कि मेरे द्वारा गत दिवस भोपाल और सीहोर जिलों का दौरा कर भारी वर्षा से तबाह हुई फसलों का अवलोकन किया था। इस अतिवृष्टि ने खरीफ की फसलें पूरी तरह से बर्बाद कर दी है। किसानों के सामने यह आपदा की घड़ी है। राज्य सरकार को तत्काल मुआवजा दिये जाने की कार्यवाही प्रारंभ करना चाहिये। मैं प्रमुख रूप से निम्न मांगों पर आपका ध्यान आकृष्ट कराना चाहता हूँ:-   1.    खरीफ की फसल के दौरान जिन किसानों की फसलें पूरी तरह से खराब हो गई है, उनके द्वारा किसान क्रेडिट कार्ड पर एवं प्राथमिक सहाकारी समितियों से लिया गया ऋण माफ किया जाये।2.    कृषि विशेषज्ञों का दल गठित किया जाकर फसल क्षति का आंकलन कराया जाये और संबंधित बीमा कम्पनियों से तत्काल बीमा राशि का भुगतान भी कराया जाये।3.    आगामी रबी की फसल के लिये किसानों को खाद, बीज की व्यवस्था कराई जाये।4.    जिन किसानों पर पूर्व का ऋण बकाया है उनको भी कृषि ऋण उपलब्ध कराया जाये। 5.    आवश्यकता अनुसार किसानों को सहयोग के रूप में महात्मा गांधी नरेगा या सूखा राहत मद से मजदूर उपलब्ध करायें।   दिग्विजय सिंह ने अपने पत्र में आगे कहा कि यह अत्यंत दुखद है कि भोपाल संभाग में इतने बड़े पैमाने पर किसानों की फसल बर्बाद होने पर भी जिला प्रशासन ने फसल क्षति आंकलन का कोई गंभीर प्रयास नहीं किया है जबकि किसानों की शत् प्रतिशत् फसलें खराब हो गई है। प्रदेश में खरीफ की फसल खराब होने के बाद अनेक जिलों में किसानों ने आत्महत्या करने जैसा दर्दनाक कदम उठा लिया है। जिसमें दो किसान आपके गृह जिले सीहोर के भी हैं। उन्होंने सरकार से आग्रह करते हुए कहा कि मेरा निवेदन है कि राज्य सरकार की ओर से संकट की घड़ी में प्रदेश के किसानों को तत्काल मुआवजा, बीमा कम्पनियों की तरफ से बीमा की राशि सहित खाद्य बीज उपलब्ध कराने के निर्देश देने का कष्ट करें।

Dakhal News

Dakhal News 11 September 2020


bhopal, Chief Minister, meets members, Central Study Team

भोपाल। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शुक्रवार को अपने निवास पर, बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का अवलोकन और अध्ययन करने आए केन्द्रीय अध्ययन दल के सदस्यों से मुलाकात की। सीएम शिवराज ने कहा है कि मध्य प्रदेश में बीते पखवाड़े अतिवर्षा से हुई हानि की विस्तृत जानकारी केन्द्र सरकार को दी गई है। राज्य सरकार ने प्रभावित लोगों को अधिकाधिक सहायता दी है। आगे भी राहत पहुँचाने में कोई कसर नहीं छोड़ी जाएगी।   उन्होंने कहा कि केन्द्रीय अध्ययन दल के प्रभावित जिलों में भ्रमण के पश्चात इन कार्यों को पूरी तरह से सुनिश्चित करने में सहयोग मिलेगा। इस अवसर पर मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस, कृषि उत्पादन आयुक्त के.के. सिंह, प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री मनीष रस्तोगी और अन्य अधिकारी उपस्थित थे। वहीं इससे पहले अध्ययन दल के समक्ष गुरुवार को विस्तृत प्रजेंटेशन के माध्यम से भी प्रदेश के बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों की स्थिति को सामने रखा जा चुका है।   मुख्यमंत्री शिवराज ने केन्द्रीय अध्ययन दल के सदस्यों को बताया कि अगस्त माह के अंतिम सप्ताह प्रदेश के कई जिले अतिवर्षा से प्रभावित हुए। इससे फसलों, मकानों की क्षति के साथ ही मवेशियों की जान गई और लोग अपने घरों से रेस्क्यू द्वारा राहत शिविरों में पहुंचाये गए। जनहानि न हो, इसके प्रयास किए गए और इसमें सफलता भी मिली। मुख्यमंत्री ने बताया कि 28 एवं 29 अगस्त को अतिवृष्टि से जलस्तर ग्रामीण आवासीय क्षेत्रों तक पहुंच गया था। सतर्कता के कारण सेना और अन्य राहत दलों ने दिन-रात कार्य किया। निरंतर मॉनीटरिंग की गई। उन्होंने कहा कि वे स्वयं भी 48 घंटे सोये नहीं। तत्काल प्रभावित क्षेत्रों का भ्रमण कर लोगों की जीवन रक्षा और राहत शिविरों में उनके ठहरने और खाने-पीने की व्यवस्था का कार्य सुनिश्चित किया।   मुख्यमंत्री ने बताया कि सीहोर, रायसेन, होशंगाबाद, हरदा, देवास सहित इन्दौर, आगर-मालवा, भोपाल और छिंदवाड़ा में 26 से 39 प्रतिशत तक अधिक वर्षा अगस्त माह में दर्ज की गई। प्रदेश में होमगार्ड, सेना, एसडीईआरएफ और एनडीईआरएफ ने रेस्क्यू ऑपरेशन के लिए सक्रिय होकर कार्य किया। देश में 13 हजार 344 लोग रेस्क्यू किए गए। अतिवर्षा से अधिक प्रभावित जिलों में उज्जैन, खरगौन, खण्डवा, विदिशा, निवाड़ी, नरसिंहपुर, सिवनी से कुल 22 हजार 546 लोगों उनके निवास स्थान से हटाकर सुरक्षित किया गया। प्रदेश में कुल 231 राहत शिविर स्थापित किए गए।   मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने बताया कि अतिवर्षा और बाढ़ से 24 जिलों में लगभग 15 लाख हेक्टेयर क्षेत्र में फसलों का नुकसान हुआ है। करीब 17 लाख किसान प्रभावित हुए हैं। सरकार ने फौरी राहत के लिए पूरे प्रयास किए हैं। अभी भी लोगों को राहत की आवश्यकता है। मुख्यमंत्री ने केन्द्रीय दल से प्रदेश के बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों के विस्तृत निरीक्षण और प्रभावित व्यक्तियों से मुलाकात और चर्चा के बाद क्षति की विस्तृत रिपोर्ट प्रस्तुत करने का आग्रह किया।

Dakhal News

Dakhal News 11 September 2020


gwalior, state government ,will provide jobs, youth , Shivraj

ग्वालियर। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि हम नौजवानों को सरकारी नौकरी देने के साथ-साथ रोजगार के नए अवसर भी खोलेंगे। इसी कड़ी में प्रदेश सरकार ने पुलिस में भर्ती शुरू करने का फैसला किया है। साथ ही चंबल एक्सप्रेस-वे जैसी वृहद योजनाओं को गति दी है, जिससे चंबल क्षेत्र का चहुंमुखी विकास होगा। साथ ही यहां के युवाओं को रोजगार भी मिलेगा। मुख्यमंत्री ने यह बातें गुरुवार को भिण्ड जिले के मेहगांव में आयोजित विकास कार्यों के भूमिपूजन एवं लोकार्पण समारोह में कही। उन्होंने इस अवसर पर केन्द्रीय कृषि, पंचायतीराज एवं ग्रामीण विकास मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर तथा राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया के साथ लगभग 206 करोड़ रुपये लागत के विकास कार्यों का भूमिपूजन एवं लोकार्पण किया।   मुख्यमंत्री ने कहा कि भिण्ड व मुरैना जिले के नौजवान अब सैन्य बलों में केवल सिपाही ही नहीं, अफसर भी बनेंगे। इसके लिये भिण्ड जिले में सैन्य स्कूल खुलने जा रहा है। इस सैन्य स्कूल में पढऩे के बाद भिण्ड के नौजवान सेना में बड़े अफसर बनकर दुश्मन को करारा जवाब देंगे और भारत माता का मस्तक ऊँचा करेंगे। खासतौर पर मेहगाँव व गोहद क्षेत्र में सिंचाई सुविधा के विस्तार के लिये आज हमने 160 करोड़ रुपये लागत की वृहद सिंचाई परियोजना की सौगात दी है। इस परियोजना के मूर्तरूप लेने के बाद कृषि क्षेत्र में क्रांतिकारी बदलाव आएगा। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार हर गरीब को ढूंढ-ढूंढक़र खाद्यान्न पर्चियाँ देगी और उन्हें एक रुपये प्रतिकिलो की दर से राशन मुहैया करायेगी। इसके लिये आगामी 16 सितम्बर को महाअभियान शुरू होगा। उन्होंने कलेक्टर को निर्देश दिए कि मेहगाँव सहित भिण्ड जिले में कोई भी गरीब पात्रता पर्ची से वंचित नहीं रहना चाहिए।   मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश सरकार कर्जमाफी पर भी किसानों को न्याय देगी। सरकार ने किसान व गरीबों के कल्याण के लिये बनी संबल योजना को फिर से चालू करने का फैसला भी लिया है। इसी तरह आर्थिक रूप से कमजोर परिवारों के बच्चों की उच्च शिक्षा में मदद के लिये पूर्व में शुरू की गईं योजनायें भी सरकार ने चालू कर दी हैं। सरकार गरीबों के बच्चों की आईआईटी, आईआईएम व मेडीकल इत्यादि संस्थानों की फीस भरेगी।   कार्यक्रम में केन्द्रीय मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने कहा कि खुशी की बात है कि रतनगढ़ के समीप प्रदेश सरकार द्वारा पूर्व में मंजूर किए गए साढ़े तीन करोड़ रुपये के सिंचाई बांध का काम सरकार द्वारा शुरू किया जा रहा है। साथ ही वृहद सिंचाई परियोजना भी मंजूर कर दी है। इस बांध व सिंचाई परियोजना से मेहगाँव, गोहद व अटेर क्षेत्र के किसान खुशहाल होंगे। बेहतर सिंचाई सुविधा मिल जाने से यहाँ के किसान पंजाब का मुकाबला करने में पीछे नहीं रहेंगे। उन्होंने मुख्यमंत्री चौहान के प्रति आभार जताते हुए कहा कि प्रदेश सरकार ने चंबल एक्सप्रेस-वे को गति देने की पहल कर चंबल अंचल को खुशहाली का नया पैगाम दिया है। उन्होंने कहा कि 8 हजार करोड़ लागत के चंबल एक्सप्रेस-वे के मूर्तरूप लेने के बाद इस क्षेत्र की तस्वीर व तकदीर दोनों बदलेंगी। भिण्ड की धरती पर खुलने जा रहा सैनिक स्कूल भी विकास के नए आयाम स्थापित करेगा।   राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि प्रदेश सरकार के मुखिया शिवराज सिंह चौहान एक सच्चे जनसेवक हैं। जिसका फायदा प्रदेश की जनता को मिल रहा है। आज मुख्यमंत्री ने विकास कार्यों की बड़ी-बड़ी सौगातें देकर मेहगाँव क्षेत्र के विकास के लिये नए दरवाजे खोले हैं। मुख्यमंत्री ने सडक़ों के साथ-साथ कृषि के क्षेत्र में भी वृहद सिंचाई परियोजना के रूप में बड़ी सौगात इस क्षेत्र को दी है। उन्होंने कहा कि आजादी के 70 साल बाद मेहगाँव विधानसभा क्षेत्र को मुख्यमंत्री चौहान की पहल पर एक मंत्री मिला है। उन्होंने नौजवान, कर्मठ एवं लगनशील जनप्रतिनिधि श्री ओ पी एस भदौरिया को अपने मंत्रिमंडल में शामिल किया है। भदौरिया और हम सब मिलकर मेहगाँव के विकास में कोई कोर कसर नहीं छोड़ेंगे। सिंधिया ने यह भी कहा कि मध्यप्रदेश सरकार ने कोविड-19 के खिलाफ भी पूरी मजबूती के साथ लड़ाई लड़ी है। प्रदेश के अस्पतालों में कोविड-19 के इलाज के लिये बेहतर से बेहतर अधोसंरचना जुटाने का काम सरकार ने किया है।

Dakhal News

Dakhal News 10 September 2020


bhopal,  no lack of oxygen , Madhya Pradesh,CM Shivraj

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश में ऑक्सीजन की कोई कमी नहीं रहेगी। कोविड-19 के मरीजों को आवश्यकतानुसार ऑक्सीजन की आपूर्ति हर हलात में सुनिश्चित की जाएगी। प्रदेश में विद्यमान प्लांट्स की क्षमता बढ़ाने के साथ-साथ अन्य राज्यों से समन्वय का प्रयास निरंतर जारी है। मुख्यमंत्री ने यह बात गुरुवार के अपने निवास पर आयोजित बैठक में कोरोना की स्थिति की समीक्षा करते हुए कही।    उन्होंने कि प्रदेश में कोरोना के मरीजों की संख्या बढ़ रही है पर हर स्थिति में व्यवस्थाओं का सुचारु संचालन आवश्यक है। सितम्बर माह के अंत तक 150 टन ऑक्सीजन उपलब्ध हो जाएगी। नए ऑक्सीजन प्लांट के लिए भी कार्यवाही प्रारंभ कर दी गई है।   महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे से की फोन पर चर्चा   मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बैठक के दौरान महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे से प्रदेश में ऑक्सीजन आपूर्ति के संबंध में फोन पर बात की। मुख्यमंत्री ने बताया कि ठाकरे ने आश्वस्त किया है कि ऑक्सीजन की समस्या महाराष्ट्र में भी है पर वे पूरे प्रयास करेंगे कि मध्यप्रदेश को ऑक्सीजन की आपूर्ति जारी रहे।   ऑक्सीजन आपूर्ति गुजरात और उत्तरप्रदेश से होगी वैकल्पिक व्यवस्था   बैठक में जानकारी दी गई कि प्रदेश को 20 टन ऑक्सीजन की आपूर्ति महाराष्ट्र से है। यह आपूर्ति आईनॉक्स कंपनी द्वारा की जाती है। यह कंपनी आवश्यकता होने पर गुजरात और उत्तरप्रदेश के अपने प्लांट से मध्यप्रदेश को ऑक्सीजन की आपूर्ति करेगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि वर्तमान में हमारे पास 50 टन ऑक्सीजन उपलब्ध थी इसको बढ़ाकर हमने अपनी क्षमता 120 टन कर ली है और 30 सितम्बर तक यह क्षमता 150 टन हो जाएगी। प्रदेश में विद्यमान ऑक्सीजन प्लांटों की क्षमता वृद्धि के निर्देश भी दिए गए हैं। यदि ये प्लांट 100 प्रतिशत क्षमता पर कार्य करेंगे तो हमें अतिरिक्त ऑक्सीजन प्राप्त हो सकेगी। प्रदेश में ऑक्सीजन की कमी की स्थिति नहीं आएगी। किसी प्रकार की चिंता की आवश्यकता नहीं है।   ऑक्सीजन का दुरुपयोग न हो   मुख्यमंत्री ने कहा कि यह सुनिश्चित करना भी आवश्यक है कि ऑक्सीजन का दुरुपयोग न हो। मरीज को आवश्यकतानुसार ऑक्सीजन उपलब्ध हो। ऑक्सीजन का अपव्यय और दुरुपयोग रोकने के लिए आवश्यक प्रशिक्षण तथा निगरानी की व्यवस्था की जा रही है।    प्रदेश में लगेगा 200 टन क्षमता का ऑक्सीजन प्लांट   मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य शासन ऑक्सीजन की उपलब्धता के लिए दूरगामी योजना पर भी कार्य कर रहा है। आईनॉक्स कंपनी का ऑक्सीजन प्लांट प्रदेश में लगाने की अनुमति दी जा रही है। होशंगाबाद के मोहासा बावई में यह प्लांट लगेगा। इसमें 200 टन ऑक्सीजन का उत्पादन होगा।   कोविड के मरीज बढ़ रहे हैं : सावधानी आवश्यक   मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य में कोविड के मरीज बढ़ रहे हैं यह वास्तविकता है। परन्तु हर स्थिति में व्यवस्थाएं ठीक चलती रहें उसके लिए राज्य शासन प्रतिबद्ध है। अस्पताल में बिस्तर बढ़ाने की आवश्यकता भी है। इस दिशा में भी राज्य सरकार कार्यरत है। चिकित्सा महाविद्यालयों तथा जिला चिकित्सालयों को आवश्यक निर्देश दिए गए हैं। निजी अस्पतालों में कोविड के प्रभावी इलाज की व्यवस्था की जा रही है। प्रदेश लॉक से अनलॉक की ओर बढ़ा है। अर्थव्यवस्था को पुन: लॉक नहीं कर सकते। आर्थिक गतिविधियां बंद नहीं हो सकती। इस परिस्थिति में सावधानी बरतना बहुत आवश्यक है। उन्होंने प्रदेशवासियों से मॉस्क का उपयोग हर स्थिति में करने की अपील की। उन्होंने कहा कि मॉस्क और परस्पर दूरी कोरोना से बचाव का प्रभावी उपाय है।   फीवर क्लीनिक-कमांड कंट्रोल सेंटर को बनाया जाए प्रभावी   मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना महामारी के प्रबंधन को अधिक प्रभावी बनाने के लिए लक्ष्य आधारित रणनीति क्रियान्वित की जा रही है। यह सुनिश्चित किया जाएगा कि सभी जिलों में फीवर क्लीनिक पर आवश्यक जांच और उपचार की व्यवस्था हो। फीवर क्लीनिक को और अधिक सशक्त किया जा रहा है। सभी जिलों में सोमवार तक कोविड कमांड तथा कंट्रोल सेंटर आरंभ करने के निर्देश दिए गए। इससे होम आईसोलेशन में जो मरीज हैं उनकी मॉनीटेरिंग की व्यवस्था को अधिक प्रभावी बनाया जा सकता है। कमांड कंट्रोल सेंटर पर एम्बूलेंस की व्यवस्था अनिवार्य रूप से की जाए। अगर किसी भी मरीज को जरूरत पड़े तो उसे तत्काल अस्पताल भेजा जा सके।    उन्होंने कहा कि होम आइसोलेशन व्यवस्था सुदृढ़ कर इसे प्रोत्साहित करने की आवश्यकता है। बैठक में चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग, अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य मोहम्मद सुलेमान, प्रमुख सचिव चिकित्सा शिक्षा संजय शुक्ला तथा अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

Dakhal News

Dakhal News 10 September 2020


bhopal, Kamal Nath, expressed concern , lack of medical oxygen,state

भोपाल। मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने प्रदेश में मेडिकल ऑक्सीजन की कमी पर चिंता जताई है। उन्होंने महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे से प्रदेश को ऑक्सीजन की आपूर्ति मुहैया कराने का आव्हान किया है। साथ ही मप्र के सीएम शिवराज सिंह चौहान से भी वैकल्पिक उपायों पर कार्य कर इस समस्या का हल निकालने का आग्रह किया है। कमलनाथ ने ट्वीट कर कहा है कि प्रदेश में कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामले चिंताजनक है। ऐसे में प्रदेश में मेडिकल ऑक्सिजन की कमी बेहद चिंताजनक विषय है। मैं महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री से अपील करता हूँ कि संकट के इस दौर में वे हस्तक्षेप कर महाराष्ट्र से मध्यप्रदेश को होने वाली ऑक्सिजन की आपूर्ति को वापस बहाल करवाये। आगे अपने ट्वीट में उन्होंने सीएम शिवराज से अपील करते हुए कहा कि प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह से भी अपील करता हूँ कि वे अन्य वैकल्पिक उपायों पर कार्य कर कोरोना महामारी के इस दौर में प्रदेश में ऑक्सिजन की आपूर्ति को सुनिश्चित करने के लिये प्राथमिकता से कार्य करे। प्रदेश में ऑक्सिजन के संकट को तात्कालिक रूप से हल करने की आवश्यकता है। कोरोना से हो रही मौतो की तरफ सीएम शिवराज का ध्यान आकर्षित करते हुए कमलनाथ ने कहा कि मुख्यमंत्री ऑक्सिजन आपूर्ति को बढ़ाने को लेकर अगले 6 माह की व 30 सितंबर तक की बात कर रहे है। साथ ही प्रदेश के इंदौर, भोपाल, ग्वालियर, जबलपुर व अन्य जिलों में कोरोना संक्रमण के निरंतर बढ़ते मामलों व अस्पतालों में बेड की कमी व इलाज में लापरवाही के कारण हो रही मौतों की निरंतर शिकायतें मिल रही है। सरकार इस दिशा में ध्यान देकर कड़े कदम उठाये। बढ़ते संक्रमण के मामलों को देखते हुए अस्पतालों में आवश्यक बेड की संख्या सुनिश्चित करने के लिये भी सरकार कदम उठाये। आज भी निजी अस्पतालों में अन्य बीमारियों के मरीजों को इलाज नहीं मिल पा रहा है्र, जिससे भी मौतों के आँकड़े बढ़ते जा रहे है, इस पर भी ध्यान देने की बेहद आवश्यकता है।

Dakhal News

Dakhal News 10 September 2020


shivpuri, Now Shivraj and Maharaj , seen together , election meetings

शिवपुरी। प्रदेश में होने वाले उपचुनाव को लेकर भाजपा पूरी तरीके से चुनावी मोड में आ गई है। इसी क्रम में अब शिवराज और महाराज (ज्योतिरादित्य) एक साथ चुनावी प्रचार में उतर रहे हैं। इसकी शुरूआत शिवपुरी जिले के पोहरी से हो रही है। यहां पर होने वाले उपचुनाव को देखते हुए भाजपा ने अपनी फील्डिंग जमाना शुरू कर दी है।    पोहरी में 11 सितम्बर को सीएम शिवराज सिंह और ज्योतिरादित्य सिंधिया एक साथ मंच पर होंगे। मंच पर एक साथ होने के अलावा पोहरी में वह 278.23 करोड़ की योजनाओं का भूमिपूजन करेंगे साथ ही 9.57 करोड़ रुपए के विकास कार्यों का लोकार्पण करेंगे। पोहरी में होने वाले उपचुनाव में भाजपा के लिए एक साथ इन दोनों बड़े नेताओं द्वारा वोट मांगना इसे पार्टी के लिए शुरूआती बढ़त के तौर पर देखा जा रहा है। कारण यह है कि कांग्रेस के मुकाबले चुनावी प्रचार में इस समय भाजपा बढ़त बनाए हुए है। ऐसे में अब भाजपा के लिए इन दोनों नेताओं की जोड़ी का एक साथ उतरना पार्टी कार्यकर्ताओं में भी स्फूर्ति का काम करेगा।    पार्टी कार्यकर्ताओं में आएगा जोश-    शिवराज व सिंधिया की जोड़ी के एक साथ मंच पर आने से पोहरी व करैरा में पार्टी के कार्यकर्ताओं में जोश आने की संभावना है। कारण यह है कि अभी तक सिंधियानिष्ठि नेताओं के भाजपा में आने से पार्टी का जो पुराना कार्यकर्ताओं है उसमें वह सामंजस्य नहीं देखा जा रहा है जो होना चाहिए। लेकिन अब राजनीति जानकारों का मानना है कि पार्टी के दोनों बड़े नेता जब मंच पर एक साथ होंगे तो इससे पार्टी का मनोबल बढ़ेगा साथ ही पार्टी की आगे की रणनीति क्या है इसका भी खुलासा हो जाएगा।    कांग्रेस की रणनीति पर सबकी नजर-    प्रदेश की 27 सीटों पर होने वाले उपचुनाव में ग्वालियर-चंबल संभाग से 16 सीट आती हैं। ग्वालियर-चंबल की ज्यादा सीटों को ध्यान में रखते हुए ही भाजपा ने शिवराज व महाराज को एक साथ 11 सितंबर से इसी संभाग से मैदान में उतारकर अपनी चुनावी रणनीति की शुरूआत कर दी है। वहीं अब कांग्रेस को भी अपने चुनावी प्रचार के काम में तेजी लानी होगी। पूर्व में कांग्रेस नेता कमलनाथ का ग्वालियर संभाग का दौरा कार्यक्रम बन रहा था लेकिन वह स्थगित हो गया। अब आगे कांग्रेस की क्या रणनीति रहती है यह देखना होगा। कांग्रेस के कौन-कौन से नेता इस संभाग में चुनावी प्रचार की कमान संभालेंगे। कमलनाथ व दिग्गी के अलावा और कौन नेता प्रचार में आएगा इस पर सबकी नजर है। 

Dakhal News

Dakhal News 9 September 2020


bhopal, work done, interest poor, six years ,PM Modi

भोपाल। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बुधवार को सडक़ किनारे ठेला लगाकर या फुटपाथ पर बैठकर कार्य करने वालों (स्ट्रीट वेंडर्स) के लिए प्रारंभ की गयी प्रधानमंत्री स्वनिधि योजना के तहत मध्यप्रदेश के एक लाख से अधिक हितग्राहियों को वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए संबोधित किया। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार की सभी योजनाएं इस तरह से एक दूसरे को संबद्ध कर बनायी गयी हैं, जिससे गरीबों, पीडि़तों, शोषितों, वंचितों, दलितों और आदिवासियों का व्यापक हित हो सके। इस दिशा में पिछले छह सालों में जिस तरह से व्यवस्थित ढंग से कार्य हुआ, वह पहले कभी नहीं हुआ। प्रधानमंत्री ने पीएम स्ट्रीट वेंडर्स आत्मनिर्भर निधि का लाभ लेने वाले तीन पथ विक्रेताओं से सीधा संवाद भी किया। कार्यक्रम में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान भोपाल से ऑनलाइन जुड़े।    छगनलाल बोले-स्वनिधि योजना से हो गया कर्जमुक्त   प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिये सांवेर के झाडू बनाने वाले छगनलाल वर्मा, ग्वालियर की चाट ठेला चलाने वाली अर्चना शर्मा और रायसेन के सब्जी के ठेला लगाने वाले डालचंद्र से बातचीत की। उनसे पीएम स्वनिधि योजना के बारे में जानकारी ली। पूछा कि इस लोन योजना से किस तरह फायदा हो रहा है। उन्होंने सबसे पहले इंदौर जिले के सांवेर निवासी छगनलाल वर्मा से बात की। छगनलाल ने पीएम मोदी से कहा कि पीएम स्वनिधि योजना से मैं कर्ज मुक्त हो गया हूं और अब कमाई भी ठीक हो रही है। छगनलाल ने बताया कि वह दिनभर में करीब 50-60 झाडू बना लेते हैं। बच्चों और पत्नी भी मदद करते हैं। बच्चे पढ़ते भी हैं। पत्नी ने कहा कि हम लोग मिलकर झाडू बनाते हैं। किसान से खरीदकर खजूर की पत्ती लाते हैं। धंधा करने के बाद किसान को पत्ती का पैसा देते हैं। एक झाडू बनाने में खजूर की पत्ती, पाइप, लोहे का तार, नायलॉन खरीदना पड़ता है। प्रधानमंत्री ने उसे सलाह दी कि ग्राहकों से पुरानी झाडू का प्लास्टिक लेकर वे नए झाडू में उसे इस्तेमाल कर सकते हैं, इससे उनका कम खर्चा होगा और प्लास्टिक रिसाइकल होगा।    इसके बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ग्वालियर की अर्चना शर्मा से बात की। इस दौरान उन्होंने उनके बेटे और बेटी से भी बात की। अर्चना ने बताया कि वह ग्वालियर में टिक्की सेंटर चलाती हैं। उनके पति बीमार हैं। परिवार की जिम्मेदारी अर्चना खुद उठाती हैं। पति के बीमार होने के बाद सब्जी का ठेला लगाया। अब लोन मिलने पर टिक्की का ठेला लगाने लगे हैं। इसके साथ घर संभालते हैं और टिक्की सेंटर भी चलाते हैं। इस पर प्रधानमंत्री ने कहा कि आयुष्मान योजना के तहत उनका इलाज मुफ्त होता, जब अर्चना ने बताया कि उनका इलाज इसी योजना में चल रहा है।    प्रधानमंत्री ने अंत में रायसेन के सब्जी वाले डालचंद्र कुशवाहा से भी बातचीत की। डालचंद्र ने बताया कि सरकार की सारी योजनाओं का लाभ मिला है। आयुष्मान से परिवार का निशुल्क इलाज हो रहा है। गैस मिलने से जल्दी खाना बन जाता है। सब लोग मेरे काम में हाथ बंटवा लेते हैं। मोदी ने कहा कि लोन का दुरपयोग नहीं होना चाहिए। पूछा- पैसे का कैसे इस्तेमाल कर रहे हैं। एक बड़े मॉल में होने वाला डिजिटल का काम अब ठेले पर भी हो रहा है।   वीडियो कांन्फ्रेंसिंग में उपस्थित मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने योजना की जानकारी देते हुए कहा कि इस योजना ने केशकर्तन, चूड़ी कंगन बेचने वाले, सब्जी बेचने वाले, नाश्ते, चाट, नमकीन बेचने वाले, आइसक्रीम बेचने वाले, कबाड़ा बीनने वाले, आइसक्रीम आदि बेचने वालों की किस्मत बदलने का काम किया है। उन्होंने स्ट्रीट वेंडर्स की योजना के बारे में विस्तार से बताया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह की टीम को बधाई देते हुए कहा कि उनके प्रयासों से सिर्फ 2 महीने में मध्यप्रदेश में एक लाख से ज्यादा स्ट्रीट वेंडर्स- रेहड़ी-पटरी वालों को स्वनिधि योजना का लाभ मिला।    गौरतलब है कि प्रधानमंत्री स्ट्रीट वेंडर्स स्वनिधि योजना में पथ विक्रेताओं को छोटे छोटे काम-धंधे के लिए, बिना सुरक्षा लिए, बैंकों से 10 हजार रुपएयेतक की कार्यशील पूंजी तथा ब्याज अनुदान दिया जा रहा है। योजना में प्रावधान है कि डिजीटल ट्रांजेक्शन करने पर प्रतिवर्ष 1200 रुपये की अतिरिक्त राशि और समय पर ऋण चुकाने पर अगले वर्ष 20 हजार रुपये की कार्यशील पूंजी उपलब्ध करवाई जाएगी। जैसे-जैसे वे अपना कार्य आगे बढ़ायेंगे सरकार उनकी मदद बढ़ाएगी और वे आत्मनिर्भर होते चले जाएंगे। योजना में मध्यप्रदेश सरकार द्वारा एक प्रावधान और जोड़ा गया है, जिसके अनुसार केन्द्र सरकार के 7 प्रतिशत ब्याज अनुदान के बाद शेष ब्याज अनुदान मध्यप्रदेश सरकार द्वारा दिया जाएगा। इससे प्रदेश के स्ट्रीट वेंडर्स को बिना किसी ब्याज के यह राशि मिल रही है। प्रधानमंत्री स्वनिधि योजना के क्रिायन्वयन में मध्य प्रदेश देश में नंबर एक पर है। इसीलिए प्रधानमंत्री आगामी 12 सितम्बर तक यहां के हितग्राहियों से बातचीत करेंगे। कार्यक्रम का प्रसारण सभी नगरीय निकायों में दिखाया जा रहा है।

Dakhal News

Dakhal News 9 September 2020


ujjain,Pradhan Mantri Swanidhi Yojana, proved a boon , poor, Chief Minister Chauhan

उज्जैन। कोरोना वायरस महामारी का संक्रमण के दौर में गरीब लोगों की आर्थिक स्थिति को मजबूत करने के लिये रेहड़ी-पटरी वालों और ठेले पर सामान बेचने वालों की समस्याओं को देखते हुए भारत सरकार ने प्रधानमंत्री स्वनिधि योजना जून माह से लागू की है। मध्य प्रदेश में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कम समय में प्रदेश के सभी छोटे सडक़ विक्रेताओं को योजना का लाभ दिलाने का प्रयास किया है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बुधवार को ऑनलाइन के माध्यम से प्रदेश के हितग्राहियों से बातचीत की। प्रधानमंत्री ने प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को बधाई देते हुए उनकी सराहना की।    मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर सम्बोधित करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री ने स्वनिधि योजना प्रारम्भ कर गरीबों के लिये यह योजना वरदान साबित हुई है। प्रदेश में एक लाख से अधिक हितग्राहियों को अभी तक राशि वितरित कर रोजगार मुहैया कराया है। प्रधानमंत्री ने वीसी के माध्यम से इन्दौर जिले के सांवेर निवासी छगनलाल, ग्वालियर निवासी अर्चना शर्मा और रायसेन सांची निवासी डालचन्द कुशवाह से संवाद कर योजना के बारे में जानकारी प्राप्त की। उन्होंने स्वनिधि योजना का लाभ लेने वाले प्रदेश के समस्त हितग्राहियों को शुभकामनाएं देते हुए कहा कि उन्हें चर्चा के दौरान हितग्राहियों में विश्वास और उम्मीद दिखाई दी और उनके श्रम और आत्मबल से वे बेहद खुश हैं।   प्रधानमंत्री ने वीसी के माध्यम से कहा कि कम समय में योजना लागू कर प्रदेश के एक लाख से अधिक लोगों को रोजगार उपलब्ध कराया है, वह बधाई के पात्र हैं। लॉकडाउन के दौरान रेहड़ी-पटरी वालों और ठेले पर सामान बेचने वाले अपना जीवन यापन करने के लिये काम नहीं कर पा रहे हैं, इस वजह से उन्हें काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ा। इस समस्या को देखते हुए भारत सरकार ने प्रधानमंत्री स्वनिधि योजना लागू की है। स्ट्रीट वेण्डर आत्मनिर्भर निधि के अन्तर्गत रेहड़ी-पटरी वालों को अपना काम दोबारा से शुरू करने के लिये सरकार के द्वारा 10 हजार रुपये का लोन मुहैया कराया जा रहा है।    वीसी में प्रधानमंत्री ने प्रधानमंत्री स्वनिधि योजना के अलावा भारत सरकार की अन्य मुख्य योजनाएं जैसे प्रधानमंत्री आयुष्मान योजना की विस्तार से जानकारी दी। उन्होंने कहा कि ज्यादा से ज्यादा व्यक्ति लेनदेन में डिजिटल का अधिक से अधिक उपयोग करें। सरकार का प्रयास हो देश का प्रत्येक गरीब आत्मनिर्भर बने। कोरोना महामारी के चलते प्रत्येक व्यक्ति सावधानी, सुरक्षा, सोशल डिस्टेंसिंग और साफ-सफाई का विशेष ध्यान दे।   स्वनिधि योजना में संभाग में 12 हजार से अधिक हितग्राहियों को ऋण वितरित   नगरीय प्रशासन एवं विकास विभाग के उप संचालक एसके रेवाल ने यह जानकारी देते हुए बताया कि प्रधानमंत्री स्वनिधि योजना के प्रारम्भ से अब तक उज्जैन संभाग में 12 हजार से अधिक हितग्राहियों को उनके स्वयं के रोजगार स्थापित करने के लिये ऋण उपलब्ध कराये गये हैं। उज्जैन संभाग के उज्जैन जिले में 3274, आगर-मालवा में 802, देवास में 2784, मंदसौर में 1815, नीमच में 1266, रतलाम में 2076 और शाजापुर जिले में 575 रेहड़ी-पटरी वाले विक्रेताओं को ऋण उपलब्ध कराया गया है। यह प्रक्रिया निरन्तर जारी रहेगी। 

Dakhal News

Dakhal News 9 September 2020


bhopal, PM Housing, Chief Minister, transfers 102 crore ,single click

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मंगलवार को प्रधानमंत्री आवास योजना ग्रामीण के 68 हजार हितग्राहियों के खाते में चौथी और अंतिम किस्त के 102 करोड़ रुपये सिंगल क्लिक के माध्यम से अंतरित किए गए। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि गरीबों का कल्याण हमारी सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता है। रोटी, कपड़ा और मकान मूलभूत आवश्यकता है। अपना स्वयं का मकान हो, यह हर व्यक्ति का सपना होता है। इसे पूरा करने केलिए राज्य शासन प्राण-प्रण से जुटा है। हमारे जिन भाई-बहनों के पास मकान नहीं है, उन्हें प्रधानमंत्री आवास योजना के अंतर्गत मकान बनाने के लिए सहायता दी जा रही है। यह क्रम निरंतर जारी रहेगा।   मंत्रालय में मंगलवार को आयोजित इस कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री आवास योजना ग्रामीण के तहत प्रदेश में अब तक 20 लाख 30 हजार में से 17 लाख आवास पूर्ण किए जा चुके हैं। वर्ष 2019-20 में 6 लाख आवास का लक्ष्य था, जिसमें से 3 लाख 45 हजार आवास पूर्ण हो चुके हैं। जिन भाई-बहनो को अब तक आवास नहीं मिले हैं, वे निराश न हों। उन्हें भी आवास प्लस के माध्यम से प्रधानमंत्री आवास योजना का लाभ दिलाया जाएगा।   12 सितम्बर को आयोजित होगा गृह प्रवेश कार्यक्रम   मुख्यमंत्री ने कहा कि जिन हितग्राहियों के आवास निर्माण का कार्य पूरा हो गया है उनके गृह प्रवेश का कार्यक्रम 12 सितम्बर को आयोजित किया जा रहा है। दिल्ली से प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और भोपाल से वे स्वयं कार्यक्रम से जुड़ेंगे। सभी ग्राम पंचायतों में यह कार्यक्रम उत्सव के रूप में मनाया जाएगा। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का संदेश 12 सितम्बर को अपरान्ह 11 बजे प्रसारित होगा। उन्होंने सभी ग्राम पंचायतों से इस संबोधन से जुडऩे की अपील की।   मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और मेरा लक्ष्य है कि सभी गरीबों का कल्याण हो, उन्हें सभी सुविधाएं मिलें। इस दिशा में केन्द्र और राज्य शासन लगातार सक्रिय है। आगामी 16 सितम्बर को प्रदेश के 37 लाख लोगों को राशन वितरण की शुरूआत की जाएगी। इसी क्रम में 18 सितम्बर को फसल बीमा योजना के 4 हजार 600 करोड़ रुपये किसानों के खातों में डाले जाएंगे।   मुख्यमंत्री ने किया हितग्राहियों से संवाद   मुख्यमंत्री ने राशि अंतरण के अवसर पर वीडियो कान्फ्रेंसिंग द्वारा प्रधानमंत्री आवास योजना के हितग्राहियों से बातचीत की। धार के गुलाब सिंह ने मुख्यमंत्री को बताया कि उन्हें अब तक तीन किस्तों का पैसा मिल चुका है और अब उनका अपना आवास है।   आपकी प्रसन्नता हमारे जीवन की सार्थकता है   ग्वालियर के नामदेव ने आवास पाने पर मुख्यमंत्री को प्रत्यक्ष में धन्यवाद दिया। राज्य शासन द्वारा संचालित विभिन्न योजनाओं का लाभ मिलते देखकर मुख्यमंत्री बरबस ही नामदेव से कह उठे कि 'आपकी प्रसन्नता ही हमारे जीवन की सार्थकता है'।   मात्र 49 दिनों में बना लिया आवास   बैतूल की शीला विश्वकर्मा ने मुख्यमंत्री को बताया कि उन्होंने मात्र 49 दिन में ही मकान पूर्ण कर लिया। उन्होंने बताया कि हम पति-पत्नी दोनों श्रमिक हैं। पहले कच्चा मकान था, छत टपकने के अलावा अन्य कई समस्याएं थीं। प्रधानमंत्री आवास योजना में पति-पत्नी ने मिलकर और रिश्तेदारों की मदद से मात्र 49 दिन में ही मकान पूर्ण कर लिया।    अपर मुख्य सचिव पंचायत एवं ग्रामीण विकास  मनोज श्रीवास्तव ने बताया कि देश में योजना के तहत आवास निर्माण की औसत अवधि 114 दिन है। श्रीमती विश्वकर्मा ने बताया कि आवास में शौचालय, गैस आदि भी उपलब्ध हुई हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि वे चाय पीने श्रीमती विश्वकर्मा के घर अवश्य आएंगे। कार्यक्रम में मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस तथा विभागीय अधिकारी उपस्थित थे।

Dakhal News

Dakhal News 8 September 2020


bhopal, BJP leader, joining Congress, Home Minister, Narottam said

भोपाल। मध्य प्रदेश में विधानसभा उप चुनाव से पहले दल बदल का दौर शुरू हो गया है। मंगलवार को धार जिले के बिडवाल नगर में आयोजित एक कार्यक्रम में भाजपा के 300 कार्यकर्ताओं ने कांग्रेस का दामन थाम लिया। इसके अलावा भोपाल स्थित प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में ग्वालियर-चंबल संभाग के भाजपा के वरिष्ठ नेता सतीश सिंह सिकरवार पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ की मौजूदगी में अपने सैकड़ाें समर्थकों के साथ कांग्रेस में शामिल हो गए। सतीश सिंह सिकरवार के कांग्रेस में शामिल होने के बाद गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने बड़ा बयान दिया है। उन्होंने मंगलवार को मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि इससे भाजपा को कोई झटका नहीं है। वहीं सरकार के खाली खजाने और घोषणाओं पर गृह मंत्री मिश्रा ने कहा कि मन चाहिए कुछ कर गुजरने के लिए, भाषण नहीं मन चाहिए। संसाधन तो सभी जुट जाएंगे, संकल्प का धन चाहिए। सीएम शिवराज की इच्छा शक्ति है, वे सदैव से किसानों के पक्ष के रहे हैं। वे सदैव से किसानों के लिए काम करते आए हैं और हम सदैव से किसानों के लिए काम करते आए हैं। इन्होंने सिर्फ कहा है और हमने किया है। उन्होंने कांग्रेस पर तंज कसते हुए कहा कि अब साध, चोर, लंपट और ज्ञानी अपनी संगत सबकी जानी... कांग्रेस धोखा देती रही, इसलिए उनको ऐसा लगता है। एक भी व्यक्ति का 2 लाख का कर्जा माफ हो तो बताएं। लड़कियों को स्कूटी नहीं दे पाए, युवाओं को रोजगार नहीं दे पाए, इसलिए इनको सब ऐसे ही नजर आता है। मंत्री मिश्रा ने कहा कि कमलनाथ जी यह भाजपा की सरकार है, अगर हम झूठ बोलते तो पिछले 15 साल से सरकार हम कैसे बनाते। जनता तो हम पर विश्वास करती है ना, आप तो 15 साल के बाद भी पूर्ण बहुमत नहीं ला पाए। लंगड़ी लूली सरकार चलाई आपने और पटक दी।    दिग्विजय के ट्वीट पर कसा तंज:दिग्विजय सिंह के यूरिया की कालाबाजारी पर उठाए गए सवाल पर गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने तंज कसते हुए कहा कि शायद उन्होंने अपने भाई के विजुअल और फुटेज नहीं देखे जो कमलनाथ की सरकार में थे। खाद की कालाबाजारी को लेकर, लक्ष्मण सिंह खुद ताला तोड़ने गए थे। दिग्विजय सिंह सिर्फ झूठ बोलने की ही खा रहे हैं। जनता के बीच जाना नहीं है, केवल ट्विटर और टीवी पर दिखते हैं।   संजय राउत को गृह मंत्री ने दी सलाह:कंगना रनौत को लेकर संजय राउत द्वारा दिए गए बयान पर मंत्री मिश्रा ने उन्हें सलाह देते हुए कहा कि हमारे यहां हमेशा नारी की पूजा होती है। हम सार्वजनिक जीवन में हैं, खास तौर पर हमको शाब्दिक मर्यादा का बहुत ध्यान रखना चाहिए। भारत में नारी की पूजा होती है। संजय राउत ने जिस तरह के शब्द आदरणीय कंगना जी के लिए कहे हैं, मैं उसे अच्छा नहीं मानता।

Dakhal News

Dakhal News 8 September 2020


bhopal. BJP leader ,former minister ,Satish Sikarwar, joins Congress

भोपाल। मध्य प्रदेश के ग्वालियर जिले से भाजपा को बड़ा झटका लगा है। विधानसभा चुनाव 2018 में भाजपा प्रत्याशी रहे पूर्व मंत्री सतीश सिकरवार ने मंगलवार को कांग्रेस का हाथ थाम लिया। उन्होंने प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में पूर्व सीएम व प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमल नाथ की मौजूदगी में समर्थकों के साथ कांग्रेस की सदस्यता ग्रहण की। इस दौरान कमल नाथ ने तिरंगा पटका पहनाकर उनका कांग्रेस में प्रवेश पर स्वागत किया।   सतीश सिकरवार के कांग्रेस में शामिल होने के बाद मीडिया से बातचीत करते हुए कमलनाथ ने कहा कि भाजपा के नेतागण, कार्यकर्ता बड़ी संख्या में भाजपा छोड़कर कांग्रेस में लगातार प्रवेश ले रहे हैं। कल भी कुछ लोगों ने प्रवेश लिया था। उन्होंने कहा कि हम इसे पब्लिसिटी या इवेंट का रूप नहीं देते हैं, यह तो भाजपा की राजनीति है। भाजपा पर निशाना साधते हुए कमलनाथ ने कहा कि आज तो जनता की छोड़िए, भाजपा के कार्यकर्ता ही उनसे दुखी हैं। यह मध्य प्रदेश की स्थिति है।   इसके अलावा उप चुनाव को लेकर कमलनाथ जीत के लिए पूरी तरह आस्वस्त हैं। उन्होंने कहा कि हमारी सर्वे रिपोर्ट बहुत अच्छी है, हमें कोई चिंता नहीं है, हम सभी सीटें जीतेंगे। आज का मध्य प्रदेश का मतदाता बहुत समझदार है। मुझे प्रदेश के मतदाताओं, यहाँ की जनता और जिन 27 सीटों पर उप चुनाव हो रहा है, वहां की जनता पर भी पूरा विश्वास है कि वो भले कमलनाथ का साथ न दे, कांग्रेस का साथ न दे लेकिन सच्चाई का साथ जरूर देगी।

Dakhal News

Dakhal News 8 September 2020


shivpuri, There is no shortage,workers Congress,  Arun Yadav

शिवपुरी। कांग्रेस के पूर्व प्रदेशाध्यक्ष अरूण यादव ने कहा है कि कांग्रेस की जड़े बहुत मजबूत हैं और पार्टी के पास कार्यकर्ताओं की कोई कमी नहीं है। कांग्रेस के पूर्व प्रदेशाध्यक्ष अरूण यादव सोमवार को अल्पप्रवास पर शिवपुरी आए। इस दौरान श्री यादव ने यहां पर कांग्रेस कार्यकर्ताओं को पार्टी कार्यालय पर संबोधित भी किया। पत्रकारों से चर्चा में कांग्रेस के पूर्व प्रदेशाध्यक्ष अरूण यादव ने कहा कि जो विधायक पार्टी छोड़कर गए हैं उनके जाने से पार्टी को कोई फक्र नहीं पड़ता। उन्होंने कहा कि पार्टी की जड़ें बहुत मजबूत हैं। कांग्रेस कार्यालय पर उन्होंने पार्टी कार्यकर्ताओं से कहा कि आने वाले चुनाव में एकजुटता से काम करें और पार्टी का हर वर्कर बूथ स्तर तक काम करें यह उसकी जिम्मेदारी है।

Dakhal News

Dakhal News 7 September 2020


bhopal, All fronts , campaign to highlight, failures , Kamal Nath government,Bhupendra Singh

भोपाल। भाजपा के सभी मोर्चा प्रदेश के 27 विधानसभा क्षेत्रों में कमलनाथ सरकार के 15 महीनों के कार्यकाल की विफलताओं को उजागर करने के लिए विशेष अभियान चलायेंगे। यह बात चुनाव प्रबंधन समिति के संयोजक एवं प्रदेश के मंत्री भूपेंद्र सिंह ने मोर्चा द्वारा शुरू किए जाने वाले इस अभियान को लेकर सोमवार को हुई चुनाव प्रबंधन समिति की बैठक में कही। बैठक में उपचुनाव की तैयारियों को लेकर समिति के सदस्यों से विचार विमर्श किया।   बैठक में 27 विधानसभाओं में शुरू होने वाले घर-घर संपर्क अभियान की कार्ययोजना पर चर्चा हुई। इसके साथ ही विधानसभाओं में चल रहे सेक्टर सम्मेलनों की समीक्षा की गयी। सेक्टर सम्मेलन के पश्चात विधानसभाओं में बूथ सम्मेलन आयोजित किए जाएंगे। बूथ सम्मेलनों की तैयार कार्ययोजना को लेकर समिति सदस्यों ने अपने सुझाव दिए। समिति के संयोजक भूपेन्द्र सिंह ने बताया कि कमलनाथ सरकार ने समाज के हर वर्ग के साथ वादाखिलाफी की। पार्टी का युवा मोर्चा, महिला मोर्चा, अनुसूचित जाति एवं जनजाति मोर्चा, अल्पसंख्यक मोर्चा एवं पिछड़ा वर्ग मोर्चा कमलनाथ सरकार की विफलताओं को लेकर बूथ स्तर तक पहुंचेंगे। उन्होंने बताया कि सभी मोर्चा चुनाव अभियान के माध्यम से जनता से संवाद करेंगे।   भूपेंद्र सिंह ने बताया कि चुनाव प्रचार को लेकर पार्टी के राष्ट्रीय एवं प्रादेशिक नेताओं के प्रवास शुरू हो चुके हैं। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदत्त शर्मा, केन्द्रीय मंत्री नरेन्द्रसिंह तोमर, फग्गन सिंह कुलस्ते अलग-अलग विधानसभाओं में प्रवास कर रहे हैं। आगे अन्य नेता के भी प्रवास होंगे,  जिसको लेकर बैठक में विस्तृत विचार विमर्श हुआ।   बैठक में प्रदेश उपाध्यक्ष विजेश लुणावत, प्रदेश महामंत्री भगवानदास सबनानी, पूर्व मंत्री उमाशंकर गुप्ता, प्रदेश मीडिया प्रभारी लोकेन्द्र पाराशर सहित अन्य पदाधिकारी उपस्थित थे।

Dakhal News

Dakhal News 7 September 2020


bhopal, MP Stamp duty, charged only one percent , sale and purchase

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रदेश के नगरीय क्षेत्रों में प्रापर्टी की खरीदी-बिक्री पर स्टाम्प ड्यूटी में कमी करने का निर्णय लिया है। राज्य सरकार ने स्टाम्प ड्यूटी में लगने वाले तीन फीसदी ‘सेस’ को घटाकर एक फीसदी कर दिया है। मुख्यमंत्री ने कहा है कि दो प्रतिशत की छूट मिलने से अब लोग आसानी से अपना मकान खरीद सकेंगे।    मुख्यमंत्री ने सोमवार को मंत्रालय में जानकारी दी कि कोविड-19 की वजह से व्यापक पैमाने पर आर्थिक गतिविधियाँ प्रभावित हुई हैं। रियल स्टेट सेक्टर पर भी इसका बड़ा प्रभाव पड़ा, जिसके फलस्वरूप प्रापर्टी खरीदने, बेचने के इच्छुक नागरिक भी विपरीत स्थितियों का सामना कर रहे हैं। राज्य सरकार ने प्रापर्टी की खरीदी-बिक्री पर स्टाम्प ड्यूटी पर 3 प्रतिशत के स्थान पर एक प्रतिशत ‘सेस’ देने का निर्णय लिया है।   मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि हर व्यक्ति का, परिवार का एक सपना होता है कि उसका अपना एक घर हो, जहां वो अपने परिवार के साथ सुख से रह सके। कोरोना काल में आर्थिक गतिविधियाँ लॉकडाउन के वजह से लगभग समाप्त हो गई थीं। रियल स्टेट व्यवसाय पर भी इससे विपरीत प्रभाव पड़ा था। लोगों की वित्तीय क्षमताएं सीमित हो जाने के कारण संपत्तियों का क्रय-विक्रय भी प्रभावित हुआ है। अब यह आवश्यक हो गया है कि आर्थिक गतिविधियाँ बढ़ें और रियल स्टेट क्षेत्र में भी कैसे बूम आए, इसकी चिंता करनी होगी। इसके लिए हरसंभव प्रयास किए जाएंगे। इसी को दृष्टिगत रखते हुए नगरीय क्षेत्रों में प्रापर्टी की खरीदी ब्रिकी पर स्टाम्प ड्यूटी में 2 प्रतिशत की छूट सेस में मिलेगी। अभी यह छूट 31 दिसम्बर 2020 तक लागू रहेगी।    मुख्यमंत्री ने विश्वास व्यक्त किया कि इस निर्णय से लोग अपना मकान आसानी खरीद सकेंगे, कारोबार में तेजी आएगी और रियल स्टेट में कामकाज को गति मिलेगी। इसी सिलसिले में अन्य आवश्यक कदम भी उठाए जाएंगे।

Dakhal News

Dakhal News 7 September 2020


shivpuri, BJP

शिवपुरी। शिवपुरी में बीजेपी के प्रदेशाध्यक्ष बीड़ी शर्मा एवं केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर के चुनावी दौरे से शनिवार को सिंधिया समर्थकों की दूरी चर्चा का विषय बनी रही। कोई भी समर्थक न टूरिस्ट विलेज पर नजर आया न किसी नेता यहां तक कि मंत्री सुरेश धाकड़ ने प्रदेशाध्यक्ष के स्वागत में कोई होर्डिंग या स्वागत द्वार नही लगाया। जबकि दोनों नेताओं का यह दौरा पोहरी एवं करैरा उपचुनाव की तैयारी के लिए ही था।    शहर में बीजेपी के तमाम नेताओ ने स्वागत द्वार लगाकर स्वागत किया लेकिन बीजेपी में शामिल सिंधिया समर्थक किसी नेता ने ऐसा नही किया। टूरिस्ट विलेज पर दोनों नेताओं ने नए कार्यकर्ताओ के साथ समन्वय पर जोर दिया लेकिन इस बैठक में केवल अशोक ठाकुर मौजूद थे वह भी बगैर सूचना के यहां आए थे। सिंधिया खेमे से जुड़े एक सीनियर नेता ने कहा कि उन्हें कोई सूचना या निमंत्रण नहीं दिया गया न ही स्वागत के निर्देश दिए गए। अगर ऐसा कहा जाता तो निश्चित ही हम नेताओं का स्वागत करते।   बीजेपी के एक पूर्व विधायक ने तो यहां तक कहाकि उन्हें भी बैठक की कोई सूचना नही दी गई है वे तो नरेन्द्र सिंह से मिलने आये है। बीजेपी से बुलाबा न आने पर सिंधिया समथर्क मायूस थे लेकिन खास बात यह है कि पोहरी से चुनाव लड़ने जा रहे सुरेश धाकड़ ने भी जिला मुख्यालय पर आयोजित कार्यक्रम के लिए कोई गंभीरता नहीं दिखाई। उन्होंने कोई स्वागत का इंतजाम अपने स्तर पर नही किया।पीएस होटल में केवल 150 लोगों के भोजन की व्यवस्था की गई जबकि वहां 400 से ज्यादा लोग मौजूद थे। अब देखना होगा कि सिंधिया के स्वागत में भी ये नए भाजपाई ऐसा ही करते हैं या नहीं।

Dakhal News

Dakhal News 5 September 2020


bhopal, Efforts will be made, better implementation ,new education policy, Shivraj

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि मध्यप्रदेश के शैक्षणिक परिदृश्य को बेहतर बनाने के लिए शीघ्र ही ठोस कदम उठाए जाएंगे। शिक्षा के वास्तविक उद्देश्य पूर्ण हों और विद्यार्थी शिक्षा हासिल करने के बाद रोजगार के लिए तैयार हो जाएं, इस दृष्टि से नई शिक्षा नीति के मध्यप्रदेश में बेहतर क्रियान्वयन के प्रयास होंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना काल में मध्यप्रदेश में 'हमारा घर हमारा विद्यालय' के अंतर्गत सराहनीय कार्य हुआ है। इसके लिए शिक्षक अभिनंदन के पात्र हैं। यह बात मुख्यमंत्री ने शनिवार को मंत्रालय से वीडियो कांफ्रेंस द्वारा शिक्षक समुदाय से संवाद करते हुए कही।   नई शिक्षा नीति के मध्यप्रदेश में बेहतर क्रियान्वयन के प्रयास मुख्‍यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा घोषित नई शिक्षा नीति के मध्यप्रदेश में बेहतर क्रियान्वयन के प्रयास किए जाएंगे। आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश के लिए बनाए गए रोड मेप के अंतर्गत भी शिक्षा के संबंध में व्यापक विचार-विमर्श कर क्रियान्वयन की तैयारी की गई है। व्यवसायिक शिक्षा कक्षा छठवीं से प्रारंभ होगी जो विद्यार्थियों के लिए जीवन भर उपयोगी सिद्ध होगी। नए विद्यालयों के प्रारंभ करने के बारे में भी विचार-विमर्श कर ऐसा प्रयास किया जाएगा कि दस बारह ग्रामों के बीच एक विद्यालय हो, जहां आने-जाने के लिए बस सुविधा उपलब्ध होगी। लाइब्रेरी के साथ ही दक्ष शिक्षक, संगीत, नृत्य, योग और भारतीय संस्कार की शिक्षा देंगे। विद्यार्थियों का शत-प्रतिशत प्लेसमेंट हो, बेरोजगारी दूर हो यह प्रयास रहेगा। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि शिक्षा के क्षेत्र में सुधार की असीम संभावनाएं हैं जिन्हें साकार किया जाएगा।   मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि शिक्षकों का मान सम्मान बढ़ाने के प्रयास होंगे। शिक्षकों का शोषण न हो, इसके साथ ही निजी विद्यालय द्वारा शिक्षण शुल्क के संबंध में सुधार के लिए कानूनी प्रावधान किए जाएंगे। शिक्षा के क्षेत्र में सुधार के लिए पूर्व वर्षों में काफी कार्य हुआ है।   मुख्यमंत्री चौहान ने शिक्षक दिवस के अवसर पर सभी शिक्षकों को भी बधाई देते हुए कहा कि आज शिक्षक दिवस महान शिक्षक, विद्वान भारतीय संस्कृति के पोषक, राष्ट्रपति पद को सुशोभित करने वाले सर्वपल्ली राधाकृष्णन का जन्मदिवस है। मुख्यमंत्री चौहान ने डॉक्टर राधाकृष्णन के चरणों में कोटि-कोटि प्रणाम करते हुए राष्ट्रीय एवं राज्य-स्तरीय पुरस्कार पाने वाले सभी शिक्षकों को बधाई और शुभकामनाएं दी।   शासकीय विद्यालय नहीं है किसी मामले में पीछे मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि वे स्वयं एक सरकारी विद्यालय में पढ़ चुके हैं। प्राथमिक स्तर पर प्राप्त शिक्षा पूरे जीवन में उपयोगी होती है। मुख्यमंत्री चौहान ने अपने शिक्षक रतनचंद जैन का भी स्मरण किया। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि शिक्षा के तीन प्रमुख उद्देश्य ज्ञान, कौशल और नागरिकता के संस्कार हैं जिन्हें दिलवाने में शासकीय विद्यालय भी काफी सफल रहे हैं। अनेक शासकीय विद्यालयों में प्राइवेट स्कूलों से बेहतर परिणाम प्राप्त हुए हैं। इसके लिए यह संस्थाएं बधाई की पात्र हैं।   इस मौके पर शिक्षा मंत्री इंदर सिंह परमार ने भी वर्चुअल कार्यक्रम को संबोधित किया। इस अवसर पर प्रमुख सचिव श्रीमती रश्मि अरूण शमी, आयुक्त लोक शिक्षण श्रीमती जयकियावत भी उपस्थित रहीं।

Dakhal News

Dakhal News 5 September 2020


chatarpur, Demise, Bundelkhand folk singer, Deshraj Pateria, CM expresses grief

छतरपुर। बुंदेलखंड के लोकगायक देशराज पटेरिया का शनिवार को तडक़े दिल का दौरा पडऩे से निधन हो गया। उन्होंने आल्हा उदल और हरदौल की कथा सहित बुंदेली लोकगीतों को जन-जन तक पहुंचाया। देशराज पटेरिया के निधन की सूचना सामने आने के बाद उनके चाहने वालों ने शोक व्यक्त कर श्रद्धांजलि अर्पित की है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी उनके निधन पर शोक व्यक्त किया है।   जीवन के रंगमंच पर अपने लोकप्रिय लोकगीतों से लोगों का मन मोह लेने वाले देशराज पटेरिया  का जन्म 25 जुलाई 1953 में छतरपुर जिले के नौगांव कस्बे के पास तिटानी गांव में हुआ था। वह 67 वर्ष के थे। बीते बुधवार को उन्हें दिल का दौरा पडऩे के बाद छतरपुर के मिशन अस्पताल में भर्ती किया गया, जहां उनका उपचार चल रहा था। शनिवार को तडक़े 3.15 बजे उन्हें पुन: दिला का दौरा पड़ा और उनकी हृदय गति रुक गई।   बुंदेलखंड अंचल के प्रसिद्ध लोकगायक देशराज पटेरिया के निधन पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शोक संवेदना व्यक्त की है। उन्होंने शनिवार को ट्वीट किया है कि -‘अपनी अनूठी गायकी से बुंदेली लोकगीतों में नये प्राण फूंक देने वाले श्री देशराज पटेरिया जी के रूप में आज संगीत जगत ने अपना एक सितारा खो दिया। वो किसान की लली... मगरे पर बोल रहा था...जैसे आपके सैकड़ों गीत संगीत की अमूल्य निधि हैं। आप हम सबकी स्मृतियों में सदैव बने रहेंगे।’   वहीं, प्रदेश के गृह मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की है। उन्होंने ट्वीट किया है कि -‘मध्यप्रदेश के गौरव और देश-विदेश में अपने लोकगीतों के जरिए अलग पहचान रखने वाले बुंदेलखंड के लोकप्रिय लोकगायक श्री देशराज पटेरिया जी के असमय निधन से मन बेहद आहत है। ईश्वर दिवंगत आत्मा को शांति प्रदान करें और उनके परिजनों को यह दुख सहने की शक्ति दें।’

Dakhal News

Dakhal News 5 September 2020


raisen, All possible help,provided, flood affected people, Shivraj

रायसेन। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शुक्रवार को रायसेन तहसील के अनेक गांवों में बाढ़ से प्रभावित फसलों का निरीक्षण लिया। इसके पश्चात उन्होंने ग्राम पग्नेश्वर में किसानों, ग्रामीणों से संवाद करते हुए कहा कि उन्हें चिंता करने की जरूरत नहीं है, सरकार आपके साथ है। बाढ़ से प्रभावित सभी लोगों की हर संभव सहायता कर उन्हें संकट से बाहर लेकर आएंगे। मुख्यमंत्री ने ग्राम मेढक़ी, पग्नेश्वर, धनियाखेड़ी, धौबाखेड़ी और ताजपुर सूर में बाढ़ से प्रभावित फसलों का निरीक्षण किया तथा किसानों से बातचीत कर उन्हें ढांढस बंधाया।   मुख्यमंत्री ने कहा कि मेरी पहली प्राथमिकता थी कि बाढ़ से किसी को जान का नुकसान नहीं हो और हमें इस बात का संतोष है कि इतनी बड़ी बाढ़ में भी हमने किसी व्यक्ति की जान नहीं जाने दी। हम लोगों की जान बचाने में सफल हो गए हैं। बाढ़ से प्रभावित लोगों को उनके नुकसान का मुआवजा दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि रायसेन, होशंगाबाद, सीहोर में हुई लगातार बारिश होने और बाढ़ आने के कारण मैंने स्वयं रातभर जागकर राहत और बचाव कार्यों पर निगरानी रखी। पहले बचाव कार्य के लिए एसडीआरएफ, एनडीआरएफ की टीम बुलवाई और फिर सेना भी बुलवाई। बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में लोगों को हेलीकॉप्टर से सुरक्षित स्थानों पर भी पहुँचाया गया। प्रदेश में बाढ़ में फंसे 13 हजार से अधिक लोगों को सुरक्षित निकाला गया है।   मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि उनके पास हर क्षेत्र की जानकारी है और उन्होंने प्रशासन को सभी क्षेत्रों में तत्काल सर्वे कर मदद पहुँचाने के निर्देश दिये हैं। उन्होंने कहा कि फसलों को हुए नुकसान की भरपाई की जाएगी। जिनके घरों को क्षति पहुँची है, उन्हें भी हरसंभव राहत दी जाएगी। मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को निर्देश दिए कि कोई भी प्रभावित व्यक्ति सर्वे से न छूटे। उन्होंने कहा कि प्रदेश में कोरोना महामारी से बचाव और नियंत्रण के लिए सभी आवश्यक कदम उठाए गए हैं। चिकित्सालयों में वेंटीलेटर, दवाएं सहित सभी आवश्यक संशाधन उपलब्ध कराते हुए स्वास्थ्य सेवाओं का विस्तार किया जा रहा है।   इस अवसर पर पूर्व मंत्री डॉ गौरीशंकर शेजवार ने कहा कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह लगातार बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का दौरा कर किसानों को ढांढस बंधा रहे हैं। मुख्यमंत्री द्वारा क्षेत्र में सर्वे कार्य शीघ्र पूर्ण करने के निर्देश प्रशासन को दिए गए हैं। बाढ़ प्रभावितों को यथासंभव मदद जरूर दी जाएगी। इस अवसर पर पूर्व मंत्री एवं सिलवानी विधायक रामपाल सिंह, भाजपा के जिला अध्यक्ष जयप्रकाश किरार, कलेक्टर  उमाशंकर भार्गव, एसपी मोनिका शुक्ला भी उपस्थित थी।

Dakhal News

Dakhal News 4 September 2020


bhopal, Five months, commutation,passenger buses,MP waived, Shivraj

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आम जनता के हित में और बस आपरेटर्स की समस्याओं को दूर करने के लिये यात्री बसों के सुचारू संचालन का महत्वपूर्ण निर्णय लिया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में बस संचालकों एवं उससे जुड़े लोगों की परेशानियों के दृष्टिगत यात्री बसों पर देय मासिक वाहनकर को 1 अप्रैल 2020 से 31 अगस्त 2020 तक की अवधि तक पूर्णतः माफ किया जाएगा। साथ ही यात्री बसों के संचालन की स्थिति पुनः सामान्य रूप से हो सके इसको दृष्टिगत रखते हुए माह सितंबर 2020 के देय मासिक वाहनकर में 50 प्रतिशत की छूट एवं वाहनकर जमा करने की तिथि को 30 सितम्बर 2020 तक बढ़ाया गया है।   मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि बस आपरेटर्स और प्रदेश की जनता के हित में लिये गये इस निर्णय से अब प्रदेश में पूर्ण क्षमता के साथ बसें पुन: चालू हो जाएगी। इससे जहां एक ओर आमजन को आवागमन की सुविधा मिल सकेगी, वहीं दूसरी ओर यात्री बसों से जुड़े रोजगार प्रारंभ हो सकेंगे।   उल्लेखनीय है कि कोरोना वायरस संक्रमण की रोकथाम एवं बचाव को दृष्टिगत रखते हुए 25 मार्च 2020 से लॉक डाउन के कारण बसों का संचालन प्रतिबंधित किया गया था। राज्य सरकार द्वारा समय-समय पर जारी निर्देशों के अनुरूप उनके संचालन की क्रमशः अनुमतियां भी दी गयी हैं। किन्तु व्यावहारिक रूप से बसों का संचालन सामान्य रूप से नहीं हो सका। राज्य शासन द्वारा लिये गये उक्त निर्णय से प्रदेश के बस आपरेटर्स की परेशानियां खत्म होंगी और आमजन की सुविधा के लिये अब बसों का पूरी क्षमता के साथ संचालन शुरू हो सकेगा। इसी क्रम में यात्री किराये के पुनर्निधारण के लिये किराया निर्धारण समिति को जिम्मेदारी सौंपते हुए शीघ्र निराकरण के निर्देश दिये गये हैं।   बस आपरेटर्स ने मुख्यमंत्री चौहान का माना आभार प्रदेश के बस आपरेटर्स ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के उक्त निर्णय का स्वागत करते हुए आभार प्रकट किया है।

Dakhal News

Dakhal News 4 September 2020


bhopal, Urban Administration Minister ,Bhupendra Singh, accuses Kamal Nath

भोपाल। मध्य प्रदेश में घटिया चावल का मामला सामने आने के बाद राजनीतिक आरोप प्रत्यारोप तेज हो गए हैं।कांग्रेस प्रदेश सरकार पर गरीबों को जानवरों का अनाज खिलाने का आरोप लगा रही है। वहीं भाजपा इस पूरे घोटाले को पूर्ववर्ती कमलनाथ सरकार का संरक्षण मिलने की बात कह रही है। इस पूरे मामले पर अब प्रदेश के नगरीय प्रशासन मंत्री भूपेन्द्र सिंह का बड़ा बयान सामने आया है।   मंत्री भूपेन्द्र सिंह ने शुक्रवार को मीडिया से बातचीत करते हुए चावल की ईओडब्ल्यू जांच पर कहा कि निश्चित रूप से यह बहुत ही गंभीर विषय है। उन्होंने कहा कि इंटेलीजेंस के द्वारा तत्कालीन मुख्यमंत्री कमलनाथ को यह अवगत कराया गया था कि प्रदेश में बड़ी मात्रा में बिहार से और अन्य स्थानों से घटिया चावल आ रहा है और उसके बदले में अच्छा चावल यहां से भेजा जा रहा है। यह बात उस समय के मुख्यमंत्री को सोचना चाहिये थी, परंतु उस समय कोई कार्यवाही नहीं की गई। कोई ध्यान नहीं दिया गया और उसके कारण यह घटिया चावल जनता तक पहुंचा और इसलिए पूरी तरह से कमलनाथ सरकार की लापरवाही या मिलीभगत थी। जिस कारण ये चावल प्रदेश की गरीब जनता तक पहुंचा।   घोटाले के लिए कमलनाथ जिम्मेदारइंटेलिजेंस की जांच को लेकर पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ पर आरोप लगाते हुए मंत्री भूपेन्द्र सिंह ने कहा कि इंटेलिजेंस का जो इनपुट आता है, वह सीधा सीएम को आता है। इसलिए कमलनाथ को आया था, इसमें सीधे तौर पर माननीय कमलनाथ जी इसके लिए जिम्मेदार हैं। यहां वहां की बात करने से वह जिम्मेदारी से बच नहीं सकते। इसलिए पूरी तरह से कमलनाथ सरकार ही जिम्मेदार है। कमलनाथ जी को ओर कांग्रेस पार्टी को प्रदेश की जनता से माफी मांगनी चाहिए।   भाजपा नेताओं के दौरे पहले से चल रहेभाजपा नेताओं के दौरों को लेकर मंत्री सिंह ने कहा कि जब से उप चुनाव घोषित हुए हैं उसके पहले से चल रहे हैं। सभी नेताओं के कार्यक्रम हो रहे हैं उसी के अंतर्गत माननीय नरेंद्र सिंह तोमर, ज्योतिरादित्य सिंधिया, वीडी शर्मा सहित सभी नेताओं के दौरे कार्यक्रम चल रहे हैं। और मुख्यमंत्री आज से लेकर 17 तारीख तक लगातार प्रदेश के सभी विधानसभा क्षेत्रों में दौरे पर जाएंगे।   कमलनाथ के ग्वालियर दौरे पर कसा तंजकमलनाथ के ग्वालियर दौरे पर तंज कसते हुए उन्होंने कहा कि कमलनाथ ने पहले बताया गया था कि बस से सारे नेता जाने वाले हैं। पिछले महीने यह कार्यक्रम बना था लेकिन कांग्रेस बस में बैठी थी उससे पहले ही बस पंचर हो गई। अभी जो दौरा कार्यक्रम है वह कब से है और क्या है यह दौरे पर ही पता चलेगा। उन्होंने कहा कि कांग्रेस में भारी अंतर कलह है। गोविंद सिंह पदयात्रा कर रहे हैं, कमलनाथ मेगा शो कर रहे हैं, कांग्रेस की यह अंतर कला मेगा शो में देखने को मिलेगी। बेरोजगारी को लेकर कांग्रेस पर आरोप लगाते हुए उन्होंने कहा कि पहले मैं पूछना चाहता हूं कि चुनाव के समय जो कांग्रेस का घोषणा पत्र था। उसमें कांग्रेस ने चार हजार रुपये की रोजगारी भत्ता देने की बात कही थी वह उन्होंने सवा साल तक क्यों नहीं दिए, यह बताएं पहले।   कांग्रेस पर लगाए आरोपभूपेन्द्र सिंह ने कांग्रेस पर आरोप लगाते हुए कहा कि कांग्रेस ने इस देश में भ्रष्टाचार की संस्कृति को जन्म दिया है। स्वर्गीय अटल बिहारी वाजपेई जी की सरकार को मात्र एक सांसद के कारण प्रधानमंत्री पद से इस्तीफा देना पड़ा था। उस समय कांग्रेस ने किस तरह से खरीद-फरोख्त की थी ऐसे अनेक उदाहरण पूरे देश में है। कांग्रेस की यही संस्कृति है और जिसकी जैसी संस्कृति होती है वह बाकी के बारे में भी ऐसे ही सोचता है। उन्होंने नगरीय निकाय चुनावों को लेकर कहा कि नगर निगम चुनाव की प्रक्रिया चल रही है, वार्डों का आरक्षण भी हो रहा है जैसे ही चुनाव समाप्त हुए माननीय मुख्यमंत्री जी से बात करके नगरीय निकाय चुनाव कराए जाएंगे।

Dakhal News

Dakhal News 4 September 2020


bhopal, Digvijay Singh, made serious allegations ,against Shivraj government

भोपाल। मध्यप्रदेश में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के गृह जिले सीहोर में दो किसानों द्वारा की गई आत्महत्याओं को लेकर पूर्व सीएम और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह ने शिवराज सरकार पर गंभीर आरोप लगाए हैं। उन्होंने सोशल मीडिया के माध्यम से सरकार पर जमकर निशाना साधा है, साथ ही उन्होंने खाद की कालाबाजारी के आरोप भी लगाए हैं।    पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने ट्वीट के माध्यम से कहा है कि ‘मुख्यमंत्री के गृह जिले में किसान ने की   आत्महत्या। पूरा जिला प्रशासन मामा जी की सेवा में लगा है। न किसानों का सर्वे हो रहा है और न मुआवजा मिल रहा। बीमा की तो उम्मीद ही छोड़ दो क्योंकि मामा और उसके कृषि मंत्री में कंपनियों से कमीशन को ले कर विवाद चल रहा है।’   उन्होंने कहा कि मैं शुक्रवार 04 सितम्बर को सीहोर जिले के उन दोनों परिवारों से मिलने जाऊंगा, जिनके परिवार में आत्महत्या हुई हैं। यह उनके परिवार जनों से जानने के लिए कि किन परिस्थितियों के कारण उन दोनों ने यह कदम उठाया।’ उन्होंने आगे लिखा है कि - ‘रमेश पुत्र गोपीलाल मालवीय जिसने फसल खराब होने से आत्महत्या की, उसके पुत्र ने यह जानकारी दी। शिवराज जी और आपके मंत्री जी सुनिए, रमेश मालवीय का दिमाग़ खऱाब नहीं था। आप अपनी जांच करा लें।’   दिग्विजय सिंह ने लिखा है कि -‘फसल पूरी चौपट सीहोर जिला प्रशासन मुख्यमंत्री की सेवा में व्यस्त। उन्हें तो पद पर बने रहने के लिए मामा की सेवा में ही रहना है जनता जाए भाड़ में। शर्म करो शिवराज जी।  मामा के ग्रह जिले में एक और किसान द्वारा आत्महत्या! रमेश पुत्र गोपीलाल ग्राम पंचायत कुर्ली कला तहसील जावर जिला सीहोर के पास 5 बीघा जमीन थी और 6 लाख का कर्ज था।’  उन्होंने आगे लिखा है कि - ‘2019 में 42,480 किसानों ने मौत को गले लगा लिया। यह कोई और नहीं, एनसीआरबी का ही डेटा है। क्या ये सभी दिमाग़ी बीमारी से जूझ रहे थे मंत्री जी? आपने ही तो 2016 में भी कहा था कि भूत प्रेतों की वजह से हो रही हैं किसान आत्महत्याएं! खेत की स्थिति जब देखी तो राम जाने उनके दिमाग में क्या आया-उन्होंने फांसी लगा ली। क्या ये दिमाग खराब होने की निशानी है?   उन्होंने अगले ट्वीट में केन्द्र सरकार पर निशाना साधा है। उन्होंने लिखा है कि - ‘मोदी जी ने 3 किसान विरोधी अध्यादेश जारी किए हैं जिनका उद्देश्य बड़े बड़े उद्योगपतियों को लाभ पहुँचा कर किसानों का और छोटे-मध्यम वर्गीय व्यापारियों का शोषण करना है। जितना जल्दी आप समझ कर इसका विरोध करें उतना अच्छा होगा। मैं इस बारे में लेख भी लिख रहा हूं।’    उन्होंने प्रदेश सरकार पर खाद की कालाबाजारी का आरोप लगाते हुए ट्वीट किया है कि -‘मैं जो कहता था वह सही साबित हुआ। मेरे 10 साल के कार्यकाल में एक बार भी खाद की कालाबाजारी की शिकायत नहीं आई, क्योंकि मेरे कृषि मंत्री सुभाष यादव जी सारी खाद सहकारी समिति से बंटवाते थे और जब से भाजपा राज में मध्यप्रदेश शासन ने निजी हाथों में सौंपा है किसानों को दिक्कत आने लगी।’

Dakhal News

Dakhal News 3 September 2020


bhopal, Chief Minister meets, flood affected people,Harda district

भोपाल/हरदा। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मंगलवार को हरदा जिले के बाढ़ प्रभावित तहसील हंडिया का दौरा किया। मुख्यमंत्री चौहान बाढ़ प्रभावितों से मिले, उनका हालचाल जाना। उन्होने हंडिया में बाढ़ प्रभावितों को संबोधित करते हुए कहा कि इस भीषण बाढ़ आपदा के संकट में प्रदेश सरकार आपके साथ है। चिन्ता न करें, हर संभव सहायता मुहैया कराई जायेगी।   मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि बाढ़ ग्रसित क्षेत्रों में फसल, मकान, सामान हर क्षति का पूरा आंकलन कर शीघ्र राहत पहुँचाई जाएगी। आरबीसी 6-4 व फसल बीमा दोनों का लाभ प्रभावितों को मिलेगा। प्रभावितों की जिंदगी पुन: पटरी पर लाई जायेगी। सभी व्यवस्थाएं चाक चौबंद होगी। मंत्रीगण, जनप्रतिनिधि, सहितकमिश्नर, आईजी, कलेक्टर, पूरी प्रशासनिक टीम जनता की सहायता के लिये लगातर सतर्क रहेगी, ताकि बेहतर व्यवस्थाएं बनाई जा सके।   मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि प्रदेश सरकार ने सत्ता में आते ही कोरोना संकट की चुनौतियों से निपटने के लिये पूरी व्यवस्थाएं सुनिश्चित की एवं संसाधन उपलब्ध कराए। बाढ़ आपदा के इस संकट से भी जनता को शीघ्र पार निकालेंगे।   जन हानि को रोकने में हुए सफल मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि 28-29 को हुई भारी बारिश , बरगी, तवा, बारना बांधों के ओवरफ्लो होने से तथा लगातार पानी छोड़े जाने से बाढ़ की स्थिति निर्मित हुई। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि हमारा पहला धर्म जनता की सेवा है। जब जनता संकट में हो तो शिवराज घर पर नहीं बैठ सकता। ऐसे संकट में हमने कंट्रोल रूम बनाकर मुख्य सचिव, डीजीपी के साथ चौबीस घंटे बिना सोये लगातार निगरानी बनाये रखी। कमिश्नर, आईजी, कलेक्टर, एसपी को भी निर्देशित किया कि वे भी बिना सोये राहत एवं बचाव कार्य का मोर्चा संभाले। भीषण बाढ़ आपदा के संकट में लगातार फोन आ रहे थे ''मामा हमें बचा लो'', लोग बाढ़ में फंसे हुए थे। हमने प्रधानमंत्री जी, रक्षामंत्री, सेना प्रमुखों से बातचीत की और तुरन्त भारतीय वायु सेना और थल सेना का सहयोग प्राप्त हुआ। सेना के जवानों, एनडीआरएफ, एसडीआरएफ, होमगार्ड सहित पूरी प्रशासनिक टीम, स्वयं सेवी कार्यकर्ता ने दिन रात मेहनत करके एक-एक जान की रक्षा की। मुख्यमंत्री ने कहा कि एयरफोर्स की टीम द्वारा बाढ़ में फंसे तीन सौ लोगों को एयरलिफ्ट के माध्यम से रेस्क्यू कर सुरक्षित स्थानों पर पहुँचाया गया। मुख्यमंत्री चौहान ने हंडिया तहसील में बाढ़ में फंसे हुए लोगों को बचाने में युवकों, स्वयं सेवी कार्यकर्ताओं, जनप्रतिनिधियों द्वारा किये गये प्रयासों की भी सराहना की। उन्होंने कहा कि संतोष इस बात का है कि हम जन हानि को रोकने में सफल हुए।   इतिहास में पहली बार, बैंक रविवार को भी खोले गये मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि किसान भाईयों को फसलों के नुकसान से सुरक्षा के लिये इतिहास में पहली बार रविवार को भी बैंक खोले जाकर किसान भाईयों की फसलों का बीमा कराया गया। उन्होने कहा कि जिन गरीब भाईयों बहनों को राशन नहीं मिलता था, उन्हें भी इसी माह से राशन मिलना शुरू हो जाएगा। बाढ़ ग्रसित क्षेत्रों में जिनके घर डूब गये थे, उन्हें भी पचास किलो राशन उपलब्ध कराया जायेगा। बीस लाख किसानों के खाते में 4600 करोड़ रूपये डाले जाएंगे।   मुख्‍यमंत्री ने की कृषि मंत्री की तारीफ मुख्यमंत्री चौहान ने कृषि मंत्री पटेल की प्रशंसा करते हुए कहा कि कृषि मंत्री ने कोरोना संकट काल और अतिवृष्टि के समय सक्रियता से कार्य कर किसानों से सतत् सम्पर्क बनाये रखा और हरसंभव मदद भी की।

Dakhal News

Dakhal News 1 September 2020


bhopal, Kamal Nath, questions Kovid Hospital, asks CM Shivraj, truth

भोपाल। राजधानी भोपाल में कोरोना संक्रमण को देखते हुए सरकार ने चिरायु अस्पताल को कोविड अस्पताल बनाया है। यहां राजधानी समेत प्रदेश के अन्य जिलों से भी कोरोना संक्रमण के मरीज ईलाज के लिए भर्ती होते है। सीएम शिवराज ने स्वयं कोरोना संक्रमित होने पर इस अस्पताल में भर्ती होकर अपना ईलाज करवाया था। इसके अलावा अन्य राजनेता भी यही कोरोना संक्रमण से ठीक होकर अपने घर लौटे है। लेकिन प्रदेश के पूर्व सीएम और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने चिरायु अस्पताल को लेकर सवाल उठाए है। साथ ही उन्होंने सीएम शिवराज से सच्चाई भी पूछी है।   कमलनाथ ने एक बयान जारी कर कहा है कि मुझे भोपाल के चिरायु अस्पताल में इलाज को लेकर बहुत सारी शिकायतें प्राप्त हुई है। लोगों ने मुझसे चर्चा में कई तरह के आरोप लगाये है। चिरायु अस्पताल कोविड-19 अस्पताल घोषित किया गया है, लोग चाह रहे हैं कि इसकी पूरी जांच हो। उन्होंने कहा कि मैं तो मुख्यमंत्री शिवराज सिंह जी से कहता हूं कि आप खुद अपना इलाज कराने चिरायु अस्पताल गए थे। पता नहीं आपको कितनी जानकारी मिली, इलाज की सच्चाई पता चली कि नहीं ? कमलनाथ ने कहा कि इतने सारे लोग जिन्होंने शिकायतें की है, आरोप लगाए हैं व मुझे मिले भी हैं, चाहते है कि अस्पताल की जाँच हो।   कमलनाथ ने मांग करते हुए कहा कि मेरी मांग है कि इस अस्पताल में कोरोना इलाज की खुली जाँच हो। स्पष्ट इंक्वायरी हो, इसकी जाँच में सभी अपना सबूत रखे कि किस प्रकार का इलाज चिरायु अस्पताल में चल रहा है। उन्होंने सवाल उठाते हुए कहा कि यह तो मृत्यु केंद्र, डेथ सेंटर बन चुका है। इसका कोई रिकॉर्ड नहीं है, मरीज आते हैं -जाते हैं, निकलते हैं, क्या उनकी रिपोर्ट थी, क्या इलाज किया गया, डिस्चार्ज पर उनकी क्या समस्या थी ? जिस प्रकार हर हॉस्पिटल में रिकॉर्ड रखा जाता है, चिरायु में कोई रिकॉर्ड नहीं है, सब बनावटी रिकॉर्ड है। जब तक इसकी जाँच नहीं होगी, खुलासा नहीं होगा, प्रदेश के लोगों को शांति नहीं मिलेगी, जिनके परिवार की मृत्यु हो चुकी है और जिन्होंने भुगता है।   बाढ़ प्रभावितों की मदद करे सरकारइसके अलावा उन्होंने सरकार से अति वर्षा और बाढ़ के कारण प्रभावित हुए लोगों की मदद की मांग करते हुए कहा कि प्रदेश के विभिन्न जिले बाढ़ से प्रभावित हुए है। अभी हमारी प्राथमिकता रहना चाहिए कि उनको राहत पहुंचाई जाए। घोषणाओं से, हवाई निरीक्षण से कुछ नहीं होने वाला। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री बताएं इस आपदा में प्रभावितों को क्या राहत प्रदान की जा रही है, जिनके मकान बह गये, मवेशी बह गये, जिन की फसल बर्बाद हुई, इनको अभी तक क्या राहत प्रदान की गयी। मुख्यमंत्री राहतों की घोषणा करें और सभी प्रभावितों को तुरंत राहत पहुँचाये।  

Dakhal News

Dakhal News 1 September 2020


bhopal, Lokayukta

भोपाल/इंदौर। मप्र लोकायुक्त पुलिस ने बड़ी कार्यवाही को अंजाम दिया है। लोकायुक्त पुलिस की टीम ने इंदौर में पदस्थ रहे जिला खनिज अधिकारी प्रदीप खन्ना के भोपाल और इंदौर के ठिकानों पर मंगलवार सुबह छापा मारा। लोकायुक्त ने प्रदीप खन्ना के विरुद्ध आय से अधिक संपत्ति अर्जित करने का प्रकरण दर्ज किया है। मंगलवार सुबह लोकायुक्त पुलिस की एक टीम ने इंदौर के पटेल नगर स्थित फ्लैट एवं भोपाल की टीम ने गौतम नगर, गोविंदपुरा स्थित एक बंगले में कार्यवाही शुरू की है। हाल ही में शासन द्वारा प्रदीप खन्ना का तबादला इंदौर से श्योपुर किया गया है।   जानकारी अनुसार प्रदीप खन्ना के 3 घरों पर लोकायुक्त की सुबह से कार्यवाही शुरू हुई है। लोकायुक्त की दो टीमें भोपाल और इंदौर दोनों जगह छापेमारी की कार्रवाई कर रही है। लोकायुक्त पुलिस को प्रदीप खन्ना भोपाल स्थित घर पर मिले। श्योपुर में पदस्थ जिला खनिज अधिकारी प्रदीप खन्ना के यहां लोकायुक्त छापे की यह कार्रवाई आज सुबह 5 बजे शुरू हुई और और भोपाल के गौतम नगर स्थित एचआईजी 171 और इंदौर स्थित निवास पर छापा मारा गया है।    सूत्रों के मुताबिक शुरूआती कार्यवाही में भोपाल स्थित उनके घर से बड़ी मात्रा में नगद और दस्तावेज मिले है। इसके अलावा इंदौर के घर में भी जमीन संबंधित अन्य महत्वपूर्ण दस्तावेज मिलने की जानकारी है। हालांकि अभी लोकायुक्त की टीम ने यह स्पष्ट नहीं किया है कि छापे की कार्रवाई में क्या-क्या चीजें अनियमित पाई गई है, लेकिन कुछ देर बाद इसका खुलासा हो सकता है। गौरतलब है कि लीज के मामले में इंदौर कमिश्नर ने खनिज अधिकारी खन्ना को इन्दौर में सस्पेंड कर दिया था। इसके बाद उनका इंदौर से श्योपुर ट्रांसफर हुआ था। 

Dakhal News

Dakhal News 1 September 2020


bhopal,All efforts ,compensate,rehabilitate crop losses ,Shivraj

  भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि अतिवर्षा और बाढ़ से हुए नुकसान के कारण किसान चिंतित नहीं हों। सरकार एक्शन में है और उनके साथ है। फसल बीमा योजना और आरबीसी के प्रावधानों को मिलाकर नुकसान की भरपाई की हरसंभव व्यवस्था कर पुनर्वास के सभी प्रयास होंगे। प्रदेश के 14 जिलों में लगभग 7 लाख हेक्टेयर क्षेत्र में फसलें प्रभावित हुई हैं। अब अधिकांश जगह जलस्तर कम हो रहा है, स्थिति नियंत्रण में है। बाढ़ प्रभावित क्षेत्र में राहत शिविर में भोजन, पेयजल आदि की व्यवस्था की गई है। राज्य की स्थिति से केंद्रीय गृह मंत्री को अवगत करवाया गया है।   मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सोमवार को मीडिया से बातचीत में बताया कि बाढ़ से प्रभावित क्षेत्रों में फसल खराब होने के साथ-साथ साफ-सफाई और बीमारी फैलने के खतरे से बचाव की व्यवस्था, स्वच्छ पेयजल और बिजली आपूर्ति पुन: स्थापित करना सबसे बड़ी चुनौती है। इस कार्य में प्रशासन पूरी मुस्तैदी के साथ लगा है। मंत्रियों को भी जिम्मेदारी सौंपी जाएगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि सिवनी में पुल टूटने के कारणों की जाँच कराई जाएगी।   मुख्यमंत्री ने दिया धन्यवादमुख्यमंत्री ने बाढ़ राहत में जुटी सभी एजेंसियों जैसे जिला प्रशासन, सेना, वायुसेना, एसडीआरएफ, एनडीआरएफ को संकट की इस घड़ी में लोगों की मदद के लिए तत्काल सक्रिय होने पर धन्यवाद दिया। बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में वायुसेना के पांच हेलीकाप्टर द्वारा 264 लोगों को एअरलिफ्ट किया गया। मुख्यमंत्री ने विपरीत मौसम में घने बादलों के बीच हेलीकाफ्टर से बचाव कार्य के लिए पायलट  आदर्श और संजय श्रीवास्तव को धन्यवाद दिया। उन्होंने सेना के ग्रुप कमांडर तथा सभी पांच पायलेट को भी धन्यवाद दिया।   जेईई मेन और नीट के विद्यार्थियों को नि:शुल्क परिवहन सुविधामुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश के जेईई मेन और नीट-2020 परीक्षा में सम्मिलित हो रहे विद्यार्थियों को नि:शुल्क परिवहन साधन उपलब्ध कराने के निर्देश जारी किए गए हैं। विद्यार्थियों को कोरोना के कारण समस्या का सामना न करना पड़े इस उद्देश्य से यह व्यवस्था की गई है। विद्यार्थियों को यह सुविधा प्राप्त करने के लिए अपने गाँव/शहर से विकासखंड अथवा जिला मुख्यालय तक आना होगा। यहाँ से परीक्षा केन्द्र तक आने-जाने के लिए परिवहन सुविधा जिला प्रशासन द्वारा उपलब्ध कराई जाएगी।  

Dakhal News

Dakhal News 31 August 2020


bhopal,All efforts ,compensate,rehabilitate crop losses ,Shivraj

  भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि अतिवर्षा और बाढ़ से हुए नुकसान के कारण किसान चिंतित नहीं हों। सरकार एक्शन में है और उनके साथ है। फसल बीमा योजना और आरबीसी के प्रावधानों को मिलाकर नुकसान की भरपाई की हरसंभव व्यवस्था कर पुनर्वास के सभी प्रयास होंगे। प्रदेश के 14 जिलों में लगभग 7 लाख हेक्टेयर क्षेत्र में फसलें प्रभावित हुई हैं। अब अधिकांश जगह जलस्तर कम हो रहा है, स्थिति नियंत्रण में है। बाढ़ प्रभावित क्षेत्र में राहत शिविर में भोजन, पेयजल आदि की व्यवस्था की गई है। राज्य की स्थिति से केंद्रीय गृह मंत्री को अवगत करवाया गया है।   मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सोमवार को मीडिया से बातचीत में बताया कि बाढ़ से प्रभावित क्षेत्रों में फसल खराब होने के साथ-साथ साफ-सफाई और बीमारी फैलने के खतरे से बचाव की व्यवस्था, स्वच्छ पेयजल और बिजली आपूर्ति पुन: स्थापित करना सबसे बड़ी चुनौती है। इस कार्य में प्रशासन पूरी मुस्तैदी के साथ लगा है। मंत्रियों को भी जिम्मेदारी सौंपी जाएगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि सिवनी में पुल टूटने के कारणों की जाँच कराई जाएगी।   मुख्यमंत्री ने दिया धन्यवादमुख्यमंत्री ने बाढ़ राहत में जुटी सभी एजेंसियों जैसे जिला प्रशासन, सेना, वायुसेना, एसडीआरएफ, एनडीआरएफ को संकट की इस घड़ी में लोगों की मदद के लिए तत्काल सक्रिय होने पर धन्यवाद दिया। बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में वायुसेना के पांच हेलीकाप्टर द्वारा 264 लोगों को एअरलिफ्ट किया गया। मुख्यमंत्री ने विपरीत मौसम में घने बादलों के बीच हेलीकाफ्टर से बचाव कार्य के लिए पायलट  आदर्श और संजय श्रीवास्तव को धन्यवाद दिया। उन्होंने सेना के ग्रुप कमांडर तथा सभी पांच पायलेट को भी धन्यवाद दिया।   जेईई मेन और नीट के विद्यार्थियों को नि:शुल्क परिवहन सुविधामुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश के जेईई मेन और नीट-2020 परीक्षा में सम्मिलित हो रहे विद्यार्थियों को नि:शुल्क परिवहन साधन उपलब्ध कराने के निर्देश जारी किए गए हैं। विद्यार्थियों को कोरोना के कारण समस्या का सामना न करना पड़े इस उद्देश्य से यह व्यवस्था की गई है। विद्यार्थियों को यह सुविधा प्राप्त करने के लिए अपने गाँव/शहर से विकासखंड अथवा जिला मुख्यालय तक आना होगा। यहाँ से परीक्षा केन्द्र तक आने-जाने के लिए परिवहन सुविधा जिला प्रशासन द्वारा उपलब्ध कराई जाएगी।  

Dakhal News

Dakhal News 31 August 2020


bhopal, BJP, national vice president ,Prabhat Jha, corona infected

भोपाल। मध्यप्रदेश में कोरोना का कहर जारी है। यहां आम लोगों के साथ-साथ  राजनेता और अधिकारी भी इस महामारी की चपेट में आने से नहीं बच पा रहे हैं। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और उनके आठ मंत्रियों, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष, 10 से अधिक विधायकों के बाद अब वरिष्ठ नेता और पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रभात झा भी कोरोना संक्रमित हो गए हैं। सोमवार को उनकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। इसकी जानकारी उन्होंने स्वयं ट्वीट के माध्यम से दी है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने उनके शीघ्र स्वस्थ होने की कामना की है।   भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रभात झा ने सोमवार को ट्वीट करते हुए बताया कि - ‘वे पिछले 7-8 दिन से ग्वालियर में थे। अस्वस्थता महसूस होने एवं डॉक्टरों की सलाह पर मैंने अपना कोरोना टेस्ट कराया। टेस्ट रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। इस दौरान जो भी मेरे संपर्क में आये हैं अपना टेस्ट करवा लें।’   मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट के माध्यम से कहा है कि -‘भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और मेरे मित्र प्रभात झा के अस्वस्थ होने की सूचना मिली है। मैं ईश्वर से प्रार्थना करता हूँ कि वे उन्हें शीघ्र ही पूर्ण स्वस्थ करें।’   भाजपा विधायक शरदेंदु तिवारी की रिपोर्ट भी आई पॉजिटिव   वहीं, भाजपा के चुरहट विधानसभा क्षेत्र से विधायक शरदेंदु तिवारी भी कोरोना संक्रमित हुए हैं। उनकी रिपोर्ट भी पॉजिटिव आई है। उन्होंने भी सोमवार को सोशल मीडिया के माध्यम से यह जानकारी दी। उन्होंने ट्वीट करते हुए कहा कि कहा है कि उनकी कोरोना जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। जो लोग उनके सम्पर्क में आए हैं, वे अपनी जांच करा लें। तिवारी ने कहा है कि मैं फिलहाल ठीक हूं और चार दिन एकांतवास में रहूंगा।

Dakhal News

Dakhal News 31 August 2020


bhopal, BJP, national vice president ,Prabhat Jha, corona infected

भोपाल। मध्यप्रदेश में कोरोना का कहर जारी है। यहां आम लोगों के साथ-साथ  राजनेता और अधिकारी भी इस महामारी की चपेट में आने से नहीं बच पा रहे हैं। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और उनके आठ मंत्रियों, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष, 10 से अधिक विधायकों के बाद अब वरिष्ठ नेता और पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रभात झा भी कोरोना संक्रमित हो गए हैं। सोमवार को उनकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। इसकी जानकारी उन्होंने स्वयं ट्वीट के माध्यम से दी है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने उनके शीघ्र स्वस्थ होने की कामना की है।   भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रभात झा ने सोमवार को ट्वीट करते हुए बताया कि - ‘वे पिछले 7-8 दिन से ग्वालियर में थे। अस्वस्थता महसूस होने एवं डॉक्टरों की सलाह पर मैंने अपना कोरोना टेस्ट कराया। टेस्ट रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। इस दौरान जो भी मेरे संपर्क में आये हैं अपना टेस्ट करवा लें।’   मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट के माध्यम से कहा है कि -‘भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और मेरे मित्र प्रभात झा के अस्वस्थ होने की सूचना मिली है। मैं ईश्वर से प्रार्थना करता हूँ कि वे उन्हें शीघ्र ही पूर्ण स्वस्थ करें।’   भाजपा विधायक शरदेंदु तिवारी की रिपोर्ट भी आई पॉजिटिव   वहीं, भाजपा के चुरहट विधानसभा क्षेत्र से विधायक शरदेंदु तिवारी भी कोरोना संक्रमित हुए हैं। उनकी रिपोर्ट भी पॉजिटिव आई है। उन्होंने भी सोमवार को सोशल मीडिया के माध्यम से यह जानकारी दी। उन्होंने ट्वीट करते हुए कहा कि कहा है कि उनकी कोरोना जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। जो लोग उनके सम्पर्क में आए हैं, वे अपनी जांच करा लें। तिवारी ने कहा है कि मैं फिलहाल ठीक हूं और चार दिन एकांतवास में रहूंगा।

Dakhal News

Dakhal News 31 August 2020


bhopal, JEE Main, NEET Examination, Free traffic system

भोपाल। राष्ट्रीय स्तर पर सितम्बर माह में आयोजित जेईई मेन्स और नीट की परीक्षा देने वाले राज्य के परीक्षार्थियों के लिए मध्यप्रदेश में आवागमन की व्यवस्था नि:शुल्क रहेगी। यह जानकारी मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सोशल मीडिया के माध्यम से दी है।   मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सोमवार को ट्वीट करते हुए कहा है कि -‘जेईई और नीट के परीक्षार्थियों को परीक्षा केंद्रों तक पहुंचाने के लिए राज्य सरकार ने नि:शुल्क परिवहन सुविधा की व्यवस्था की है। इस सुविधा का लाभ आप 31 अगस्त से 181 पर संपर्क कर या  https/mapit.gov.in/covid- 19 पर रजिस्टर कर प्राप्त कर सकते हो।’    मुख्यमंत्री ने ट्वीट पर एक वीडियो भी पोस्ट किया है, जिसमें उन्होंने बताया कि जेईई मेन और नीट 2020 में शामिल होने वाले प्रदेश के विद्यार्थियों को कोरोना के कारण समस्या न हो, इस उद्देश्य से आने-जाने का नि:शुल्क परिवहन साधन उपलब्ध करवाया जाएगा। इसके लिए परीक्षार्थी को 181 या मध्यप्रदेश ई पास पोर्टल https/mapit.gov.in/covid-19 पर संपर्क कर रजिस्टर करना होगा। इस प्रक्रिया में विद्यार्थियों को नाम, पता, मोबाइल नंबर, परीक्षा की दिनांक और स्थान (कहां से कहां) उल्लेख करना होगा। संबंधित जिला प्रशासन परीक्षार्थी को यह सुविधा उपलब्ध करवाएगा। परीक्षार्थी यदि चाहे तो उसके एक सहयोगी को भी परीक्षा केंद्र तक आने-जाने के लिए दो तरफ की नि:शुल्क परिवहन सुविधा उपलब्ध करवाई जाएगी। विद्यार्थियों को यह सुविधा प्राप्त करने के लिए विकासखंड और जिला मुख्यालय में उपस्थित होना होगा। यहां से परीक्षा केंद्र तक आने-जाने के लिए सुविधा उपलब्ध करवाई जाएगी।

Dakhal News

Dakhal News 31 August 2020


bhopal, Kamal Nath ,expressed concern ,over worsening situation, discussed with CM

भोपाल। मध्य प्रदेश में बारिश के चलते जनजीवन बुुरी तरह से प्रभावित हुआ है। राजधानी भोपाल समेत समूचा प्रदेश बाढ़ की चपेट में है। प्रभावित क्षेत्रों में सेना की मदद से राहत के प्रयास किए जा रहे हैं। वहीं कई जगहों पर सेना के हेलीकॉप्टर की मदद से रेस्क्यू ऑपरेशन के माध्यम से बाढ़ में फंसे लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया जा रहा है। सीएम शिवराज खुद राहत कार्यों पर नजर रखे हुए है और शासन प्रशासन को उचित दिशा निर्देश दे रहे हैं। इस बीच मप्र के पूर्व और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने सीएम शिवराज को फोन कर प्रदेश में बनी बाढ़ की स्थिति पर चिंता जताई है।   कमलनाथ ने रविवार दोपहर ट्वीट कर कहा ‘प्रदेश में अतिवर्षा का दौर जारी है। प्रदेश के 12 से अधिक जिले व 400 से अधिक गाँव बाढ़ की चपेट में है। नदियाँ उफान पर है। बाढ़ ने प्रदेश के कई हिस्सों को प्रभावित किया है। लोगों का भारी नुकसान हुआ है। उन्होंने कहा कि मैंने प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह से इस पर चर्चा कर चिंता व्यक्त की है। मैंने उनसे निवेदन किया है कि प्रभावित इलाकों में आपदा, राहत व बचाव के कार्य में तेजी लायी जाए। डूब प्रभावित व निचले बसे इलाक़ों में में विशेष ध्यान दिया जाए, जिससे कोई जनहानि ना हो। बाढ़ में फँसे लोगों को लोगों को तेजी से निकाला जाए। प्रभावित लोगों के रहने, खाने-पीने की समुचित व्यवस्था की जाए।   आगे अपने ट्वीट में उन्होंने कहा पूरा प्रदेश, हम सभी, संकट की इस घड़ी में प्रभावित लोगों के साथ खड़े है। जिन इलाक़ों में अभी भी खतरा बना हुआ है, वहाँ विशेष चौकसी बरती जाए। पानी वाले पर्यटन स्थलों पर आवाजाही पर रोक लगायी जाए। वहाँ भी सुरक्षा के समुचित इंतज़ाम किये जाए। कमलनाथ ने कांग्रेस कार्यकर्ताओं से प्रभावित ईलाकों में मदद की अपील करते हुए कहा कि मैं प्रदेश भर के समस्त कांग्रेसजनों से भी अपील करता हूँ कि संकट की इस घड़ी में वे प्रभावित इलाक़ों में मुस्तैदी से जुट जाए। प्रशासन की टीम के साथ मिलकर राहत व बचाव कार्यों में मदद करें। प्रभावित लोगों के रहने, खाने- पीने की मदद करें।

Dakhal News

Dakhal News 30 August 2020


bhopal, Efforts for relief, flood affected areas ,MP, Chief Minister

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने रविवार को कहा है कि प्रदेश में बाढ़ प्रभावित लोगों की तत्परता से सहायता की जा रही है। प्रभावित क्षेत्रों में राहत के प्रयासों को अंजाम दिया गया है। रेस्क्यू ऑपरेशन के माध्यम से करीब 800 लोगों को सुरक्षित कर दिया गया है। किसी की जान का नुकसान नहीं होने दिया गया है। नौकाएं भी लोगों को सुरक्षित स्थान पर पहुंचाने के लिए सक्रिय हैं। भोपाल कमिश्नर सहित अन्य अधिकारी भोपाल संभाग के बाढ़ प्रभावित इलाकों की निरंतर निगरानी कर रहे हैं। राहत के प्रयासों में कोई कसर नहीं छोड़ी जाएगी।   मुख्यमंत्री शिवराज ने रविवार सुबह प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को मध्यप्रदेश की स्थिति से अवगत करवाया। उन्होंने बताया कि प्रदेश के बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में राहत पहुंचाने में कोई कसर नहीं छोड़ी जाएगी। मुख्यमंत्री शिवराज ने बताया कि अतिवर्षा, बाढ़ पर निरंतर नजर रखी जा रही है। आपदा राहत के कार्य चल रहे हैं। कहीं भी किसी की जान का नुकसान नहीं हुआ है। प्रदेश के करीब 400 ग्राम बाढ़ से प्रभावित है। आवश्यकतानुसार सेना का सहयोग भी लिया जा रहा है। नर्मदांचल के कुछ हिस्सों में 20 वर्ष पूर्व हुई अतिवर्षा का रिकार्ड टूटा है।   मुख्यमंत्री ने बताया कि प्रदेश में बाढ़ की स्थिति को देखते हुए प्रभावित क्षेत्रों में आवश्यक राहत कार्य संचालित किए जा रहे हैं। बचाव दल सक्रिय हैं। प्रदेश में जान का नुकसान नहीं होने दिया गया है। मुख्यमंत्री चौहान ने बताया कि वर्ष 1999 की बाढ़ का रिकॉर्ड टूटा है। उन्होंने आमजन से अपील की कि से पानी से घिरे स्थानों पर रहने की जिद न करते हुए प्रशासन जब निकलने का कहे तो सावधानी रखते हुए तुरंत अन्य स्थान पर या राहत शिविर में शिफ्ट होने में सहयोग करें। बेहतर से बेहतर व्यवस्थाएं की जा रही हैं। कोई कसर नहीं छोड़ी जाएगी। मुख्यमंत्री ने स्वैच्छिक संगठनों से भी आग्रह किया है कि सहयोग का हाथ बढ़ाएं। बाढ़ प्रभावित लोगों को भोजन वस्त्र और अन्य सहायता प्रदान करने में सहयोग करें।    मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बताया कि बालाघाट जिले में जो बाढ़ प्रभावित ग्राम कुलमी के निवासी हैं। इन्हें एअरलिफ्ट कर लिया गया है। बालाघाट जिले के 3 लोगों को एअरलिफ्ट किया गया है, होशंगाबाद जिले के कुछ गांवों बांद्राभान आदि में आर्मी और एनडीआरएफ की टीम उनको निकालेगी सीहोर जिले में भी कुछ गांव बाढ़ से घिरे हुए हैं। प्रशासन लगातार उनके संपर्क में बना हुआ जरूरत पड़ी तो एनडीआरएफ की टीम के साथ आर्मी के जवान हमारी मदद करेंगे। आर्मी के कॉलम नसरुल्लागंज और शाहगंज को बेस बनाकर आसपास के लोगों की मदद करेंगे।   मुख्यमंत्री ने बताया कि एक राहत की बात यह है कि बारिश अभी कहीं-कहीं थमी है, बांधों से भी डिस्चार्ज थोड़ा कम हुआ है और नर्मदा जी का जलस्तर धीरे-धीरे कम होना प्रारंभ हुआ है। लेकिन हमें सावधान रहने की आवश्यकता है। मुख्यमंत्री ने कहा कि मैं सभी बाढ़ से घिरे गांव के बहनों और भाइयों से अपील करता हूं कि प्रशासन के कहने पर कृपया करके वह बाहर जरूर निकाल आएं। उन्होंने कहा कि मेरा आग्रह है प्रशासन निकलने का कहे तो तुरंत निकलना है, अभी भी बारिश हो सकती है डैम भरे हुए हैं ऐसी स्थिति में फिर बाढ़ की स्थिति बन सकती है बाढ़ है पानी भी बढ़ सकता है इसलिए सावधानी रखना बहुत जरूरी है। कोरोना कॉल में भी राहत शिविरों में हम यथासंभव बेहतर से बेहतर व्यवस्था कर रहे हैं लेकिन आपके सहयोग की जरूरत है।

Dakhal News

Dakhal News 30 August 2020


bhopal, BJP declared incharge, co-incharge, assembly by-election

भोपाल। प्रदेश की रिक्त विधानसभा सीटों पर उपचुनाव की आहट तेज होती जा रही है। ऐसे में दोनों ही प्रमुख दलों ने इन चुनावों की तैयारियां शुरू कर दी हैं। संगठन के स्तर पर की जाने वाली तैयारियों में भारतीय जनता पार्टी बाजी मारती दिख रही है। पार्टी ने शनिवार को इन उपचुनावों के लिए विभिन्न सीटों के प्रभारी, सह प्रभारी नियुक्त कर उनकी सूची जारी कर दी है।   प्रदेश भाजपा के कार्यालय मंत्री सत्येंद्र भूषण सिंह ने शनिवार को विधानसभा चुनाव प्रभारी, सह प्रभारी की सूची जारी कर दी है।  इस सूची में बड़ामलेहरा, मंधाता और नेपानगर के विधानसभा उपचुनाव प्रभारी एवं सुरखी, हाटपिपल्या और सुवासरा के विधानसभा सह प्रभारियों की घोषणा की गई है। इसके अनुसार बड़ामलेहरा में हरिशंकर खटीक, मंधाता में जसवंत सिंह हाडा और नेपानगर गोपीकृष्ण नेमा को विधानसभा उपचुनाव प्रभारी घोषित किया गया है। इसी प्रकार विधानसभा उपचुनाव के लिए सह प्रभारियों में सुरखी में आलोक संजर, हाटपिपल्या में गायत्रीराजे पंवार और सुवासरा में डॉ. तेजबहादुर सिंह को सह प्रभारी घोषित किया गया है।

Dakhal News

Dakhal News 29 August 2020


bhopal, BJP declared incharge, co-incharge, assembly by-election

भोपाल। प्रदेश की रिक्त विधानसभा सीटों पर उपचुनाव की आहट तेज होती जा रही है। ऐसे में दोनों ही प्रमुख दलों ने इन चुनावों की तैयारियां शुरू कर दी हैं। संगठन के स्तर पर की जाने वाली तैयारियों में भारतीय जनता पार्टी बाजी मारती दिख रही है। पार्टी ने शनिवार को इन उपचुनावों के लिए विभिन्न सीटों के प्रभारी, सह प्रभारी नियुक्त कर उनकी सूची जारी कर दी है।   प्रदेश भाजपा के कार्यालय मंत्री सत्येंद्र भूषण सिंह ने शनिवार को विधानसभा चुनाव प्रभारी, सह प्रभारी की सूची जारी कर दी है।  इस सूची में बड़ामलेहरा, मंधाता और नेपानगर के विधानसभा उपचुनाव प्रभारी एवं सुरखी, हाटपिपल्या और सुवासरा के विधानसभा सह प्रभारियों की घोषणा की गई है। इसके अनुसार बड़ामलेहरा में हरिशंकर खटीक, मंधाता में जसवंत सिंह हाडा और नेपानगर गोपीकृष्ण नेमा को विधानसभा उपचुनाव प्रभारी घोषित किया गया है। इसी प्रकार विधानसभा उपचुनाव के लिए सह प्रभारियों में सुरखी में आलोक संजर, हाटपिपल्या में गायत्रीराजे पंवार और सुवासरा में डॉ. तेजबहादुर सिंह को सह प्रभारी घोषित किया गया है।

Dakhal News

Dakhal News 29 August 2020


bhopal, Situation worsened ,rain in MP, CM Shivraj reviewed ,necessary instructions

भोपाल। मध्य प्रदेश के पिछले 24 घंटों से हो रही मूसलाधार बारिश के चलते बाढ़ के हालात बन गए हैं। प्रदेशभर के नदी, नाले उफान पर है। सीहोर, रायसेन, सागर अंचल में तेज बारिश एवं मौसम खराब होने के कारण मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का शनिवार का दौरा निरस्त हो गया है। मुख्यमंत्री ने शनिवार सुबह 10 बजे निवास में कमिशनर -आईजी एवं राज्य के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ प्रदेश के अनेक अंचलों में अतिवृष्टि, बाढ़ से निर्मित स्तिथि की समीक्षा की और आवश्यक दिशा निर्देश दिए।   लगातार बदलते मौसम को देखते हुए मौसम विज्ञान विभाग ने शनिवार को भी भोपाल में तेज बारिश का अनुमान जताया है, वहीं होशंगाबाद, नरसिंहपुर, छिंदवाड़ा, बालघाट, सिवनी, बैतूल जिलों में भारी बारिश का रेड अलर्ट जारी किया गया है। इधर लगातार बारिश की वजह से होशंगाबाद जिले में नर्मदा नदी का जल स्तर खतरे के निशान 964 से 4 फिट ऊपर यानि कि 968.90 फिट तक पहुंच गया है. बाढ़ के पानी को निकाला जा सके, इसके लिए तवा डैम के सभी 13 गेटों को 30-30 फीट तक खोल दिया गया है. यहां से प्रति सेकेंड 5 लाख 33 हजार 823 क्यूसिक पानी छोड़ा जा रहा है। मौसम विभाग के मुताबिक मानसूनी सिस्टम के चलते प्रदेश में लगातार बारिश का दबाव बना हुआ है। इसका असर भोपाल समेत प्रदेश के पश्चिमी हिस्से में पड़ रहा है। जिसके चलते नरसिंहपुर, जबलपुर, सागर, छिंदवाड़ा, बैतूल, बालाघाट, सिवनी में अच्छी बारिश हो रही है।   क्या होता रेड अलर्टमौसम विभाग के अनुसार जिन इलाकों में भारी बारिश या बिजली गिरने की आशंका होती है। उन जिलों में रेड अलर्ट जारी किया जाता है। साथ ही जिन जिलों में खतरे के निशान से ऊपर डैम और नदियों का पानी आ जाता है और वहां जनजीवन अस्त-व्यस्त हो सकता है। इसलिए ऐसे इलाकों में प्रशासन रेड अलर्ट जारी करता है।

Dakhal News

Dakhal News 29 August 2020


bhopal, Torrential rain, continued throughout , Madhya Pradesh

भोपाल। मध्यप्रदेश में एक बार फिर से बारिश का दौर शुरू हो गया है। शुक्रवार शाम से लगातार बारिश हो रही है। राजधानी भोपाल समेत प्रदेश के कई जिलों में लगातार बारिश से जन-जीवन प्रभावित हो गया है। भोपाल में शनिवार सुबह से ही बारिश हो रही है। शुक्रवार रात तक ही राजधानी में करीब आधा इंच से ज्यादा बारिश हो चुकी है। वहीं मौसम विभाग का कहना है बीते कुछ दिनों से बंगाल की खाड़ी में बना कम दवाब का क्षेत्र का असर अब मध्यप्रदेश में असर दिखा रहा है।   मौसम विभाग ने आने वाले 24 घंटों के लिए मध्यप्रदेश के नरसिंहपुर, छिंदवाड़ा, सिवनी, बालाघाट, होशंगाबाद और बैतूल जिलों में अत्यधिक बारिश के साथ बिजली गिरने की आशंका भी जताई है। इन जगहों पर रेड अलर्ट जारी किया गया है। साथ ही कटनी, जबलपुर, मंडला, विदिशा, रायसेन, सीहोर, हरदा, देवास, धार और श्योपुर जिलों में भारी बारिश के साथ बिजली गिरने की आशंका जताई है। इन जगहों पर विभाग में आरेंज अलर्ट जारी किया है।   खतरे के निशान पर नर्मदाहोशंगाबाद में रात 12 बजे नर्मदा का जलस्तर 963 फीट पर थे। नर्मदा नदी खतरे के निशान से सिर्फ एक फीट कम है। लगातार हो रही बारिश ने प्रशासन और लोगों की समस्याएं बढ़ा दी हैं।   कई नादियां उफान परबंगाल की खाड़ी में बने सिस्टम के कारण प्रदेश में फिर से बारिश हो रही है। बारिश के कारण कई जिलों में बाढ़ के हालत हैं। वहीं, दूसरी तर प्रदेश की सभी प्रमुख नादियां उफान पर हैं। नादियों के उफान के कारण कई गांवों में बाढ़ की स्थिति बन गई है। वहीं, कई बांधों का जलस्तर बढ़ गया जिस कारण गेट खोलने पड़े हैं।   किस बांध के कितने गेट खुलेइंदिरा सागर डैम के 12 गेट, ओंकारेश्वर बांध के 21 गेट, तवा के 13 गेट, बारना के 8 गेट और बरगी डैम के 17 गेट खोल दिए गए हैं। शुक्रवार की रात को भीमगढ़ बांध के 10 गेट खोले गए हैं और उनसे 1,25,000 (एक लाख पच्चीस हजार )क्यूसेक पानी वैनगंगा नदी में छोड़ा गया है।

Dakhal News

Dakhal News 29 August 2020


bhopal, Speculation about,Scindia joining,Modi

भोपाल। भाजपा के वरिष्ठ नेता और राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया गत दिनों नागपुर पहुंचे थे और यहां राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के कार्यालय पहुंचकर उन्होंने सरसंघचालक डॉ. मोहनराव भागवत और सरकार्यवाह भैयाजी जोशी से मुलाकात की थी। नागपुर से लौटने के बाद मीडिया में अटकलें लगनी शुरू हो गई हैं कि सिंधिया जल्द ही मोदी कैबिनेट में शामिल हो सकते हैं।     दरअसल, नागपुर पहुंचने से पहले ग्वालियर में भाजपा का तीन दिवसीय महासदस्यता अभियान कार्यक्रम हुआ था। मीडिया में इस कार्यक्रम को सिंधिया के शक्ति प्रदर्शन के तौर पर देखा जा रहा है। बीते सोमवार को ग्वालियर में यह कार्यक्रम समाप्त हुआ और अगले ही दिन यानी मंगलवार को सिंधिया नागपुर पहुंच गए। यहां उन्होंने सरसंघचालक डॉ. भागवत और सरकार्यवाह भैयाजी जोशी से मुलाकात की। मीडिया में अटकलें लगनी शुरू हो गई हैं कि उनकी यह मुलाकात मोदी कैबिनेट में शामिल होने को लेकर थी।    गौरतलब है कि मध्यप्रदेश विधानसभा की 27 रिक्त सीटों पर आगामी दिनों में उपचुनाव होने वाले हैं। इसको लेकर भाजपा और कांग्रेस दोनों ही पार्टियों की तैयारियां जोर-शोर से चल रही हैं। ऐसे में सिंधिया को मोदी कैबिनेट में जगह मिलती है तो इसका भाजपा को फायदा मिल सकता है, क्योंकि अधिकांश सीटें ग्वालियर-चम्बल क्षेत्र की हैं और यह सीटें सिंधिया समर्थक विधायकों के कांग्रेस छोडक़र भाजपा में आने से रिक्त हुई हैं। ग्वालियर-चंबल संभाग में सिंधिया परिवार का असर बहुत गहरा है। ज्योतिरादित्य सिंधिया की दादी राजमाता विजयाराजे सिंधिया ने शुरुआत में इस क्षेत्र में जनसंघ को इतना अधिक मजबूत कर दिया था कि भाजपा के अस्तित्व में आने के बाद यहां उसकी नींव भी मजबूती से रखी गई।   आजादी के बाद से ग्वालियर-चंबल संभाग की राजनीति महल के इर्द-गिर्द ही घूमती रही है, क्योंकि इस परिवार के सदस्य दोनों ही प्रमुख दलों भाजपा और कांग्रेस में सक्रिय रहे हैं। ज्योतिरादित्य और उनके पिता कांग्रेस में थे, जबकि उनकी दादी शुरू से ही भाजपाई रहीं। इसके अलावा उनकी दोनों बुआ वसंधुरा राजे और यशोधरा राजे भी भाजपा में हैं। अब ज्योतिरादित्य भी भाजपा में आ गए, इसलिए कांग्रेस में सिंधिया परिवार का कोई सदस्य नहीं रहा, जिससे यहां कांग्रेस कमजोर हुई है और भाजपा को ताकत मिली है। इसीलिए मीडिया में सिंधिया का नागपुर दौरा सुर्खियों में छाया हुआ है और उनके मोदी कैबिनेट में शामिल होने को लेकर अटकलें लगाई जा रही हैं।   इस संबंध में भाजपा के मुख्य प्रदेश प्रवक्ता दीपक विजयवर्गीय का कहना है कि ज्योतिरादित्य सिंधिया भाजपा के वरिष्ठ नेता हैं। मप्र में जनसंघ व भाजपा को मजबूत बनाने में उनकी दादी का महत्वपूर्ण योगदान रहा है। अब ज्योतिरादित्य सिंधिया भी संगठन को मजबूती प्रदान कर रहे हैं।

Dakhal News

Dakhal News 27 August 2020


bhopal, Kamal Nath, big statement, Congress will release, complete data

भोपाल। मध्य प्रदेश में 27 विधानसभा सीटों पर होने वाले उपचुनाव को लेकर कांग्रेस और भाजपा ने पूरी तरह से कमर कस ली है। जहां भाजपा चुनाव की रणनीति को लेकर मंथन कर रही है। वहीं कांग्रेस भी बड़ी बैठक करने जा रही है। पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ गुरुवार को उपचुनाव क्षेत्र प्रभारियों के साथ बैठक कर रहे हैं, बैठक राजधानी भोपाल में कमलनाथ के आवास पर बैठक शुरू हो चुकी है। बैठक से पहले मीडिया से बातचीत में पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने भाजपा पर बड़ा हमला बोला है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से मुलाकात के सवाल पर उन्होंने कहा कि इस बात को छोडि़ए और सुनिए की हम आज एक पेन ड्राइव जारी करने जा रहे हैं इस पेन ड्राइव में किसान कर्ज माफी का पूरा डाटा है। यह पेन ड्राइव भाजपा के आरोपों का जवाब देने के लिए तैयार हैं।   कमलनाथ ने कहा कि हमने पिछले 4 महीनों में पूरा समय लगाकर अपने संगठन को मजबूत किया है। उन्होंने कहा कि उपचुनाव को मैं उपचुनाव और आम चुनाव नहीं मानता हूं, यह चुनाव प्रदेश की प्रतिष्ठा का चुनाव है। उन्होंने कहा कि यह मेरा संदेश है मध्य प्रदेश के हर मतदाता से कि मध्य प्रदेश का चित्र उनके सामने है 15 साल का चित्र उनके सामने है और हमारे 15 महीनों का चित्र उनके सामने हैं। जिनमें हमने परिचय दिया है, अपने नीति और चरित्र का। कमलनाथ ने कहा कि कमलनाथ का साथ ना दें, कांग्रेस पार्टी के साथ ना दे, मगर सच्चाई का साथ दें। कमलनाथ ने कहा कि सौदे की राजनीति से चुनाव कितना कलंकित हुआ है बनी हुई सरकार का सौदा किया गया यह सब कहते हैं। क्या यह भाजपा वाले जनता से भी कहेंगे कि हमने सौदा किया है इसलिए उन्होंने इस्तीफा दिया है। यह तो नहीं कह सकते कि उन्होंने सौदा किया है अब कहेंगे कि कर्जा माफ नहीं हुआ। पूरी बात स्पष्ट है इसलिए मेरे पास पेन ड्राइव है और यह पेन ड्राइव में सबको देना चाहता हूं। मालूम हो कि सुबह 11:00 बजे से कमलनाथ के बंगले पर ये बैठक चल रही हैं। इस बैठक में सभी 27 विधानसभा सीटों की मौजूदा स्थिति, विधानसभा प्रभारियों से विधानसभा वार फीडबैक, आगामी रणनीति और भाजपा को जबाव देने की रणनीति पर चर्चा की जा रही हैं।

Dakhal News

Dakhal News 27 August 2020


bhopal, Kamal Nath, big statement, Congress will release, complete data

भोपाल। मध्य प्रदेश में 27 विधानसभा सीटों पर होने वाले उपचुनाव को लेकर कांग्रेस और भाजपा ने पूरी तरह से कमर कस ली है। जहां भाजपा चुनाव की रणनीति को लेकर मंथन कर रही है। वहीं कांग्रेस भी बड़ी बैठक करने जा रही है। पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ गुरुवार को उपचुनाव क्षेत्र प्रभारियों के साथ बैठक कर रहे हैं, बैठक राजधानी भोपाल में कमलनाथ के आवास पर बैठक शुरू हो चुकी है। बैठक से पहले मीडिया से बातचीत में पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने भाजपा पर बड़ा हमला बोला है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से मुलाकात के सवाल पर उन्होंने कहा कि इस बात को छोडि़ए और सुनिए की हम आज एक पेन ड्राइव जारी करने जा रहे हैं इस पेन ड्राइव में किसान कर्ज माफी का पूरा डाटा है। यह पेन ड्राइव भाजपा के आरोपों का जवाब देने के लिए तैयार हैं।   कमलनाथ ने कहा कि हमने पिछले 4 महीनों में पूरा समय लगाकर अपने संगठन को मजबूत किया है। उन्होंने कहा कि उपचुनाव को मैं उपचुनाव और आम चुनाव नहीं मानता हूं, यह चुनाव प्रदेश की प्रतिष्ठा का चुनाव है। उन्होंने कहा कि यह मेरा संदेश है मध्य प्रदेश के हर मतदाता से कि मध्य प्रदेश का चित्र उनके सामने है 15 साल का चित्र उनके सामने है और हमारे 15 महीनों का चित्र उनके सामने हैं। जिनमें हमने परिचय दिया है, अपने नीति और चरित्र का। कमलनाथ ने कहा कि कमलनाथ का साथ ना दें, कांग्रेस पार्टी के साथ ना दे, मगर सच्चाई का साथ दें। कमलनाथ ने कहा कि सौदे की राजनीति से चुनाव कितना कलंकित हुआ है बनी हुई सरकार का सौदा किया गया यह सब कहते हैं। क्या यह भाजपा वाले जनता से भी कहेंगे कि हमने सौदा किया है इसलिए उन्होंने इस्तीफा दिया है। यह तो नहीं कह सकते कि उन्होंने सौदा किया है अब कहेंगे कि कर्जा माफ नहीं हुआ। पूरी बात स्पष्ट है इसलिए मेरे पास पेन ड्राइव है और यह पेन ड्राइव में सबको देना चाहता हूं। मालूम हो कि सुबह 11:00 बजे से कमलनाथ के बंगले पर ये बैठक चल रही हैं। इस बैठक में सभी 27 विधानसभा सीटों की मौजूदा स्थिति, विधानसभा प्रभारियों से विधानसभा वार फीडबैक, आगामी रणनीति और भाजपा को जबाव देने की रणनीति पर चर्चा की जा रही हैं।

Dakhal News

Dakhal News 27 August 2020


indore, Minister Silvat, angry over Scindia, being called, blackmailer, advised former minister

इंदौर। मप्र में विधानसभा उपचुनाव से पहले राजनीतिक बयानबाजी तेज हो गई है। कांग्रेस और भाजपा नेता जमकर एक दूसरे पर आरोप प्रत्यारोप लगा रहे हैं। इस बीच बुधवार को इंदौर में पूर्व मंत्री जीतू पटवारी द्वारा भाजपा नेता और राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया को ब्लैकमेलर कहे जाने पर सियासी पारा और गर्म हो गया है। जीतू पटवारी के इस बयान पर सिंधिया समर्थक मप्र के जल संसाधन मंत्री तुलसी सिलावट ने घोर आपत्ति जताते हुए पटवारी को मर्यादा में रहने की सलाह दी है।    दरअसल इंदौर के एक कार्यक्र्रम में पूर्व मंत्री जीतू पटवारी ने पूर्ववर्ती कमलनाथ सरकार पर भ्रष्टाचार का आरोप लगाने पर भाजपा नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया को ब्लैकमेलर कहा था। साथ ही उन्होंने मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान पर भी वादा खिलाफी के आरोप लगाए थे। जीतू पटवारी के बयान पर गुरुवार को सिंधिया समर्थक मंत्री तुलसी सिलावट ने तंज कसते हुए कहा कि जीतू पटवारी बहुत जल्दी में है और उनको टीका- टिप्पणी करने से पहले सोचना चाहिए। उन्होंने जीतू पटवारी को सलाह देते हुए कहा कि वो मर्यादा में रहे और उन्होंने सीधे निशाना साधते हुए कहा कि कुछ लोगों को बोलने का शौक है, छपास का शौक है और अति उत्साह में इस प्रकार की भाषा का इस्तेमाल करते है जो कि निंदनीय है और राजनीति में इस तरह की भाषा का उपयोग कभी नही करना चाहिए। उन्होंने कहा जीतू पटवारी मेरे छोटे भाई है और भविष्य में वो ध्यान रखे कि और इस प्रकार की टिखा टिप्पणी करना बंद करे।   मंत्री तुलसी सिलावट ने कहा देश में हर व्यक्ति जानता है सिंधिया परिवार को। उन्होंने जीतू पटवारी पर निशाना साधते हुए कहा कि वो जो बोलते है वो निराधार है और उनकी बातों का कोई भी हाथ है ना पैर है। कांग्रेस धरातल पर चली गई है इनके पास बोलने के अलावा कुछ भी नही है। जल संसाधन मंत्री ने पूर्व व दिवंगत मंत्री माधवराव सिंधिया के इतिहास को बताते हुए प्रदेश कांग्रेस के मीडिया प्रमुख जीतू पटवारी से कहा कि जब लक्ष्मण सिंह गए थे तब भी इन्होंने क्या टिप्पणी की थी। वही मंत्री सिलावट ने कहा कि ज्योतिरादित्य सिंधिया ने प्रदेश की प्रगति, विकास, उन्नति, अन्नदाताओ, युवाओ और माता बहनों के लिए उन्होंने कांग्रेस पार्टी छोड़ी है।

Dakhal News

Dakhal News 27 August 2020


bhopal, Former minister, Sajjan Singh Verma, hit back, Uma Bharti

भोपाल। पूर्व केन्द्रीय मंत्री एवं भाजपा की दिग्गज नेत्री उमा भारती ने ट्वीट के माध्यम से कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी पर पर निशाना साधा था। इसको लेकर प्रदेश के पूर्व मंत्री और कांग्रेस विधायक सज्जन सिंह वर्मा ने उमा भारती पर पलटवार करते हुए उन्हें पलायन करने वाली नेता बताया है।    दरअसल, पूर्व केंद्रीय मंत्री उमा भारती ने कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी को एक अच्छी पत्नी, मां और अच्छी बहू बताया है। उन्होंने ट्वीट के माध्यम से कहा है कि सोनिया गांधी जी भारत में पैदा नहीं हुई, यही कारण है कि हमने ऐसा माहौल बनाया कि वो भारत में प्रधानमंत्री नहीं बन सकीं, लेकिन एक महिला के नाते वह बहुत शालीन एवं ममतामयी हैं। मैं उनका बहुत आदर करती हूं, वह एक अच्छी बहु, अच्छी पत्नी एवं अच्छी मॉं रही हैं। मैंने अपने लिए भी उनमें ममत्व का भाव देखा है मगर इन कारणों से वह भारत की नेता तो नहीं बन सकती हैं।   पूर्व मंत्री सज्जन सिंह वर्मा ने बुधवार को मीडिया से बातचीत में कहा है कि उमा भारती पलायन करने वाली नेता हैं, उन्होंने गंगा की सफाई को लेकर वचन दिया था, अपना वचन पूरा नहीं कर पाई उन्हें मुंडन करा लेना चाहिए। उन्होंने इस दौरान ग्वालियर में भाजपा द्वारा चलाये गए महासदस्यता अभियान पर भी सवाल उठाते हुए कहा कि सिंधिया को झूठ बोलने की ट्रेनिंग देने के बाद बीजेपी में शामिल किया गया है।   उन्होंने भाजपा के इस अभियान के खिलाफ ग्वालियर में एकजुट होकर पोल खोल अभियान चलाने की बात भी कही, लेकिन कांग्रेस को प्रशासन द्वारा इसकी अनुमति नहीं दी जा रही है। उन्होंने कांग्रेस के पोल खोल अभियान की अनुमति निरस्त होने पर कहा कि हम लोग ग्वालियर जा रहे हैं, जिसमें दम हो रोक कर दिखाएं।   वहीं, ज्योतिरादित्य सिंधिया के संघ मुख्यालय जाने पर सज्जन सिंह वर्मा ने कहा कि बेहतर होता वो पहले रानी लक्ष्मी बाई की समाधि पर जाते, सिंधिया जी अब श्रीमंत नहीं रहे हैं। अभी तो वो अमित शाह के यहां चक्कर लगाएंगे, मोदी के यहां चक्कर लगाएंगे।

Dakhal News

Dakhal News 26 August 2020


bhopal, Former minister, Sajjan Singh Verma, hit back, Uma Bharti

भोपाल। पूर्व केन्द्रीय मंत्री एवं भाजपा की दिग्गज नेत्री उमा भारती ने ट्वीट के माध्यम से कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी पर पर निशाना साधा था। इसको लेकर प्रदेश के पूर्व मंत्री और कांग्रेस विधायक सज्जन सिंह वर्मा ने उमा भारती पर पलटवार करते हुए उन्हें पलायन करने वाली नेता बताया है।    दरअसल, पूर्व केंद्रीय मंत्री उमा भारती ने कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी को एक अच्छी पत्नी, मां और अच्छी बहू बताया है। उन्होंने ट्वीट के माध्यम से कहा है कि सोनिया गांधी जी भारत में पैदा नहीं हुई, यही कारण है कि हमने ऐसा माहौल बनाया कि वो भारत में प्रधानमंत्री नहीं बन सकीं, लेकिन एक महिला के नाते वह बहुत शालीन एवं ममतामयी हैं। मैं उनका बहुत आदर करती हूं, वह एक अच्छी बहु, अच्छी पत्नी एवं अच्छी मॉं रही हैं। मैंने अपने लिए भी उनमें ममत्व का भाव देखा है मगर इन कारणों से वह भारत की नेता तो नहीं बन सकती हैं।   पूर्व मंत्री सज्जन सिंह वर्मा ने बुधवार को मीडिया से बातचीत में कहा है कि उमा भारती पलायन करने वाली नेता हैं, उन्होंने गंगा की सफाई को लेकर वचन दिया था, अपना वचन पूरा नहीं कर पाई उन्हें मुंडन करा लेना चाहिए। उन्होंने इस दौरान ग्वालियर में भाजपा द्वारा चलाये गए महासदस्यता अभियान पर भी सवाल उठाते हुए कहा कि सिंधिया को झूठ बोलने की ट्रेनिंग देने के बाद बीजेपी में शामिल किया गया है।   उन्होंने भाजपा के इस अभियान के खिलाफ ग्वालियर में एकजुट होकर पोल खोल अभियान चलाने की बात भी कही, लेकिन कांग्रेस को प्रशासन द्वारा इसकी अनुमति नहीं दी जा रही है। उन्होंने कांग्रेस के पोल खोल अभियान की अनुमति निरस्त होने पर कहा कि हम लोग ग्वालियर जा रहे हैं, जिसमें दम हो रोक कर दिखाएं।   वहीं, ज्योतिरादित्य सिंधिया के संघ मुख्यालय जाने पर सज्जन सिंह वर्मा ने कहा कि बेहतर होता वो पहले रानी लक्ष्मी बाई की समाधि पर जाते, सिंधिया जी अब श्रीमंत नहीं रहे हैं। अभी तो वो अमित शाह के यहां चक्कर लगाएंगे, मोदी के यहां चक्कर लगाएंगे।

Dakhal News

Dakhal News 26 August 2020


bhopal, Uma Bharti ,reached Radha temple, Vidisha , meet Lord Krishna , Radha Rani

भोपाल/विदिशा। पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती बुधवार को राधा अष्टमी के अवसर पर भगवान श्रीकृष्ण को राधा जी से मिलाने के लिए विदिशा के राधा मंदिर पहुंची। सुश्री उमा भारती ने इस अवसर पर राधा रानी के दर्शन किए और भजन भी गाए।    प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती मंगलवार की देर रात विदिशा पहुंची। यहां उन्होंने रात में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा स्थापित बाढ़ वाले गणेश मंदिर में दर्शन किए। इसके बाद वह शहर के सबसे प्राचीन रंगई वाले हनुमान मंदिर भी पहुंची जहां दर्शन कर संतों से चर्चा की। रात्रि विश्राम के बाद बुधवार को राधाष्टमी के मौके पर वह शहर के सबसे प्राचीन नंदवाना की वृंदावन गली में स्थित राधा रानी मंदिर पहुंची, जहां उन्होंने राधा रानी के दर्शन कर आरती की। पूर्व मुख्यमंत्री अपने साथ बाल गोपाल की प्रतिमा लेकर आई थीं। उनका कहना था कि वह आज राधा अष्टमी के मौके पर श्रीकृष्ण को राधा जी से मिलाने लाई हैं। उमा भारती करीब एक घंटे तक राधा मंदिर में रुकी और उन्होंने बधाई गीत गाए।  इस मौके पर मंदिर समिति के पदाधिकारियों ने पीतांबर ओढ़ाकर सम्मानित किया।   इस अवसर पर मीडिया प्रतिनिधियों से बातचीत में उमा भारती ने बताया कि हर साल राधा अष्टमी पर वह वृंदावन जाती थीं, लेकिन इस बार कोरोना संक्रमण के चलते वृंदावन पहुंचने में दिक्कत दिखाई दे रही थी। इसी दौरान उन्हें पता चला कि विदिशा में वृंदावन के बाद दूसरा राधा रानी का मंदिर है। तब उन्होंने विदिशा आने का मन बनाया और देर रात में विदिशा पहुंच गई। इस दौरान उन्होंने राधा रानी से देश में फैले कोरोना संक्रमण को खत्म करने और उनके द्वारा मां गंगा के लिए किए जा रहे कार्य में सफलता दिलाने की प्रार्थना की।

Dakhal News

Dakhal News 26 August 2020


bhopal, Home Minister ,expresses strong sympathy,Govind Singh

भोपाल। मध्य प्रदेश में होने वाले विधानसभा उपचुनाव से पहले कांग्रेस और भाजपा के बीच जुबानी जंग तेज हो गई है। भाजपा द्वारा सदस्यता अभियान में सात हजार से अधिक कांग्रेस कार्यकर्ताओं के पार्टी में शामिल होने का दावा कर रही है। वहीं कांग्रेस ने भाजपा के दावों को गलत साबित करने के लिए पोल खोल अभियान शुरू किया है। कांग्रेस के पोल खोल अभियान पर प्रदेश के गृह एवं जेल मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने निशाना साधा है।   मंत्री मिश्रा ने बुधवार को मीडिया से बातचीत करते हुए कांग्रेस द्वारा चलाए जा रहे पोल खोल अभियान पर कहा कि हम कह रहे हैं हुआ है। आप कह रहे नही हुआ हैं, आप उलझ क्यो रहे हैं। आप जनता के बीच जाए और सही स्थिति का आंकलन करें। कांग्रेस नेता डॉ गोंविद सिंह को लेकर उन्होंने कहा कि वह मेरे बड़े भाई है और कांग्रेस में उनकी अपेक्षा शुरू से हुई है कांग्रेस उनका उपयोग करती हैं। चाहे विभाग देने की बात हो या नेता प्रतिपक्ष बनाने की। कांग्रेस उनके साथ "यूज़ एंड थ्रो" की नीति अपनाती है। मेरी सहानुभूति गोविंद सिंह के साथ है।   कांग्रेस कहाँ जा रही हैंकपिल सिब्बल को लेकर नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि वह बोल रहे हैं कि उनके लिए देश पहले हैं मगर समझ नही आता है कि कांग्रेस कहाँ जा रही हैं। ट्विटर के माध्यम से सरकार की नीतियां तय हो रही है उस पार्टी का क्या होगा। मुंगावली विधायक के बिगड़े बोल पर गृह मंत्री ने कहा कि यह अच्छे बोल नही हैं। वह हमारे भाई है उनको अपनी भाषा शैली पर ध्यान देना चाहिए। इसके साथ ही उन्होंने दिग्विजय सिंह पर तंज कसते हुए कहा कि दिग्विजय सिंह का संघ और देश के प्रति क्या नजरिया है और संघ का देश के प्रति क्या नजरिया है, यह सभी जानते और समझते हैं। इसलिए दिग्विजय सिंह की बातों का कोई अर्थ नहीं है।   शहीद जवान को दी श्रद्धांजलिजम्मू कश्मीर के बारामुला में शहीद हुए राजगढ़ के खुजनेर निवासी मनीष कारपेंटर के लिए उन्होने कहां कि हमारा अपना बेटा आतंकियों से लड़ते हुए शहीद हुआ है। जो हमारे लिए बहुत दुखद समय हैं। प्रदेश की माटी के लाल मनीष कारपेंटर आतंकवादियों से लड़ते हुए शहीद हुए हैं। यह एक दुखद क्षण है। मुख्यमंत्री ने उनके पार्थिव शरीर पर श्रद्धा सुमन अर्पित किए हैं। उनके आश्रितों को एक करोड़ की सम्मान निधि और परिवार के एक सदस्य को नौकरी देने का ऐलान किया है।

Dakhal News

Dakhal News 26 August 2020


bhopal, CM pays tribute, martyr jawan, announces financial assistance

भोपाल। जम्मू कश्मीर के बारामूला में आतंकी हमले में शहीद हुए राजगढ़ जिले के जवान मनीष विश्वकर्मा कारपेंटर का पार्थिव शरीर बुधवार सुबह सेना के विशेष विमान से राजधानी भोपाल पहुंचा। यहां से उनका पार्थिव शरीर उनके गृहग्राम राजगढ़ के खुजनेर ले जाया जाएगा, जहां आज उनका अंतिम संस्कार होगा। इससे पहले शहीद जवान का शव भोपाल पहुंचने पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ईमई सेंटर हॉस्पिटल परिसर में शहीद मनीष विश्वकर्मा के पार्थिव शरीर पर पुष्प चक्र अर्पित कर श्रद्धांजलि दी। मुख्यमंत्री शिवराज ने इस दौरान शहीद के परिवार को एक करोड़ की सम्मान निधि और परिवार के एक सदस्य को उनकी सहमति पर शासकीय सेवा में नियुक्ति का ऐलान किया।   सीएम शिवराज ने शहीद जवान को पुष्पांजलि अर्पित करने के बाद मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि जम्मू-कश्मीर के बारामूला में शहीद हुए देश के वीर सपूत, राजगढ़ के खुजनेर की माटी के लाल, मनीष कारपेंटर को ईएमई आर्मी सेंटर हॉस्पिटल पहुंचकर श्रद्धासुमन अर्पित किया। मां भारती की सेवा व रक्षा के लिए मर-मिटने वाले ऐसे वीर सपूतों पर प्रदेश और देश को युगों-युगों तक गर्व रहेगा! उन्होंने कहा कि मां भारती के वीर सपूत स्व. मनीष कारपेंटर ने देश की एकता, अखण्डता के लिए अपना सर्वोच्च बलिदान दिया है। खुजनेर को उन पर गर्व है, मध्यप्रदेश को उन पर गर्व है, मां भारती को उन पर गर्व है। मध्यप्रदेश की आठ करोड़ जनता की ओर से उनके चरणों में श्रद्धासुमन अर्पित करता हूं।   इस दौरान उन्होंने शहीद के परिजनों को सहायता का एलान करते हुए कहा कि शहीद साथी को तो हम वापस नहीं ला सकते लेकिन उनके परिवार को सम्मान स्वरूप एक करोड़ रुपये की सहायता राशि मध्यप्रदेश सरकार द्वारा दी जाएगी। इसके अलावा उनके परिवार के एक सदस्य को शासकीय नौकरी भी दी जाएगी। साथ ही सरकार द्वारा शहीद के गांव में शहीद की प्रतिमा की स्थापना और किसी संस्था का नाम शहीद के नाम पर किया जाएगा। यहां से शहीद मनीष का पार्थिव शरीर अंतिम संस्कार के लिए राजगढ़ जिले के खुजनेर ले जाया जा रहा है। ईएमई सेंटर में कलेक्टर भोपाल अविनाश लवानिया, ब्रिगेडियर आशुतोष शुक्ला, कमांडेंट डॉ अजोय मेनन और सेना के अन्य अधिकारी भी उपस्थित थे।

Dakhal News

Dakhal News 26 August 2020


bhopal, State get, big gift, development ,backward areas, tourism,Vishnudutt Sharma

भोपाल। केन्द्रीय सड़क, परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गड़करी जी ने मध्यप्रदेश को जो सौगातें दी हैं, उनके लिए मैं प्रधानमंत्रीनरेंद्र मोदी जी एवं श्री गडकरी जी को धन्यवाद देता हूं। आज का दिन प्रदेश में अधोसंरचना के विकास की दृष्टि से ऐतिहासिक दिन है और मैं प्रदेश की जनता तथा जनप्रतिनिधियों को बधाई देता हूं। मध्यप्रदेश को सड़कों के नेटवर्क की बड़ी सौगात मिली है, जिनसे न सिर्फ पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा, बल्कि पिछड़े क्षेत्रों और उद्योगों का विकास होगा तथा रोजगार के नए अवसर भी पैदा होंगे। यह बात भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष व सांसद विष्णुदत्त शर्मा ने मीडिया से चर्चा के दौरान कही। इससे पूर्व केंद्रीय भूतल परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने मध्यप्रदेश में 11427 करोड़ रुपये की लागत वाले निर्माण कार्यों का वर्चुअल लोकार्पण और शिलान्यास किया। कार्यक्रम की अध्यक्षता मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने की। कार्यक्रम में प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदत्त शर्मा, केंद्रीय मंत्री थावरचंद गहलोत, नरेंद्रसिंह तोमर, फग्गनसिंह कुलस्ते, प्रहलाद पटेल, प्रदेश के लोकनिर्माण मंत्री गोपाल भार्गव, प्रदेश के सांसद, विधायक व जनप्रतिनिधि उपस्थित रहे। प्रदेश अध्यक्ष शर्मा ने कहा कि प्रदेश में 1361 कि.मी. लंबी सड़कों व अन्य निर्माण कार्यों के लोकार्पण व शिलान्यास से मध्यप्रदेश में सड़कों का नेटवर्क और विस्तृत होगा और मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान द्वारा प्रदेश के सर्वांगीण विकास के लिए किए जा रहे प्रयासों को बल मिलेगा।  शर्मा ने कहा कि केंद्रीय मंत्री गडकरी ने उन निर्माण कार्यों को भी मंजूरी दे दी है, जिनके लिए मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान, केंद्रीय मंत्री नरेंद्रसिंह तोमर, वरिष्ठ नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया एवं प्रदेश के जनप्रतिनिधि लंबे समय से प्रयास कर रहे थे।   चंबल क्षेत्र में विकास की गाथा लिखेंगी गडकरी की घोषणाएं   प्रदेश अध्यक्ष शर्मा ने कहा कि केंद्रीय मंत्री गडकरी ने लोकार्पण और शिलान्यास के अलावा कई नए कामों को स्वीकृति भी दी हैं, जिनसे प्रदेश के विकास को रफ्तार मिलेगी। उन्होंने कहा कि गडकरी ने राम वन गमन पथ की सड़कों के लिए जो 1700 करोड़ रूपये की अनुमति दी है, वह प्रदेशवासियों के लिए सौभाग्य का विषय है और उन लोगों के गाल पर तमाचा है जो लगातार इस पर प्रश्न खड़ा करते रहे हैं। पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ हमेशा यही कहते रहे कि हमारे पास पैसा ही नहीं है और अपनी जेबें भरने का काम करते रहे। शर्मा ने कहा कि चंबल एक्सप्रेस वे जो अब अटल प्रोग्रेस वे के नाम से जाना जाता है, के काम को कमलनाथ सरकार ने ठंडे बस्ते में डाल दिया था, लेकिन मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान, केन्द्रीय मंत्री नरेन्द्रसिंह तोमर, सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया सहित सभी जनप्रतिनिधियों ने जो प्रयास किए, उसके फलस्वरूप गडकरी ने इटावा-श्योपुर-कोटा के बीच 358 कि.मी. लंबे और 8000 करोड़ की लागत वाले अटल चंबल प्रोग्रेस वे को स्वीकृति प्रदान की है। इसके अलावा गडकरी ने 500 करोड़ लागत वाले उज्जैन-झालावाड़ रोड, 200 करोड़ लागत वाले सागरटोला-कबीर चबूतरा रोड, 160 करोड़ की लागत वाले बुधनी- रहटी रोड, 3000 करोड़ की लागत वाले इंदौर-सनावद-बोरगांव रोड, 3800 करोड़ लगात वाले बोरगांव-बुरहानपुर-अकोला रोड के संबंध में भी घोषणाएं की हैं। शर्मा ने आशा जताई कि आने वाले समय में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, केंद्रीय मंत्री गडकरी और मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान के नेतृत्व में प्रदेश में अच्छी गुणवत्ता वाली सड़कों के नेटवर्क का और विस्तार होगा।

Dakhal News

Dakhal News 25 August 2020


bhopal, Madhya Pradesh, prosper under leadership, Chief Minister

भोपाल। केन्द्रीय सडक़ परिवहन और राजमार्ग एवं सूक्ष्म, लघु और मध्यम-उद्यम मंत्री नितिन गडकरी ने मंगलवार को मध्यप्रदेश की अनेक सडक़ों के लोकार्पण के साथ ही नए कार्यों के लिए आधारशिला रखी। वर्चुअल कार्यक्रम के माध्यम से कुल 11 हजार 427 करोड़ की लागत से 1361 किमी लम्बाई की 45 सडक़ परियोजनाओं के शिलान्यास और लोकार्पण किया गया। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मंत्रालय स्थित कक्ष से इसमें हिस्सा लिया, जबकि वर्चुअल कार्यक्रम में केंद्र सरकार और प्रदेश के कई मंत्री, सांसद, विधायक भी अलग-अलग स्थानों से इसमें शामिल हुए।   केन्द्रीय मंत्री गडकरी ने नई सडक़ों के निर्मित होने और अनेक सडक़ों का कार्य चालू होने के लिए प्रदेश की जनता को बधाई देते हुए कहा कि मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व में प्रदेश समृद्ध बनेगा। प्रदेश की सडक़ निर्माण की आवश्यकताओं को केन्द्र सरकार द्वारा पूर्ण किया जाएगा। उन्होंने केन्द्रीय सडक़ निधि (सीआरआईएफ) से जनप्रतिनिधियों के प्रस्तावों पर 700 करोड़ रुपये के कार्यों के लिए सहमति प्रदान की। प्रस्तावों को मंजूरी देकर आवश्यक धनराशि भी प्रदान की जाएगी।    केन्द्रीय मंत्री गडकरी ने कहा कि मध्यप्रदेश में हस्तशिल्प विकास और पर्यटन की असीम संभावनाएं हैं। आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश के निर्माण के लिए उनका मंत्रालय अधिकतम सहयोग प्रदान करेगा। अधिक से अधिक युवाओं को रोजगार मिले और वे प्रदेश के विकास में सहभागी बनें, इसके लिए मध्यप्रदेश के प्रोजेक्ट मंजूर करने में विलंब नहीं होगा। उन्होंने कहा कि आज जिन मार्गों का लोकार्पण और शिलान्यास हुआ है, उससे आर्थिक विकास की गति को तेज करने में सहयोग मिलेगा। परियोजनाओं से राज्य के मुख्य शहरों से ग्रामीण क्षेत्र तक पहुंच आसान होगी, पर्यटन में वृद्धि होगी, रोजगार निर्माण और किसानों एवं व्यापारियों के साथ ही आम नागरिकों के समय, ऊर्जा और धन की भी बचत हो सकेगी। मध्यप्रदेश की आर्थिक रफ्तार तीव्र होगी। उन्होंने आज स्वीकृत परियोजनाओं में से ओरछा में ब्रिज के निर्माण, ग्वालियर-देवास मार्ग, डबरा, जबलपुर, रीवा, भोपाल, साँची, सागर, बीना के कार्यों के लंबे समय से पूर्ण होने की जनप्रतिनिधियों की अपेक्षाओं का भी उल्लेख किया।   10 हजार करोड़ के पाँच नए मार्गों के लिए मंजूरी   केन्द्रीय मंत्री गडकरी ने  वर्ष 2020-21 के लिए 10 हजार करोड़ लागत के पांच नए मार्गों की स्वीकृति प्रदान की। इनमें राष्ट्रीय मार्ग उज्जैन-झालावाड़ 132 कि.मी., सागरटोला-कबीर चबूतरा 45 कि.मी., बुदनी-रेहटी-नसरुल्लागंज 43 किमी. शामिल है।  इन्दौर-सनावद-बारेगांव-136 कि.मी. और बोरगांव-बुरहानपुर-अकोला-174 कि.मी. शामिल हैं। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश में सडक़ निर्माण कार्यों की कुछ डी.पी.आर. तैयार की जा रही हैं, जिन्हें शीघ्र ही मंजूरी मिलेगी। केन्द्रीय सडक़ एवं बुनियादी ढाँचा निधि के 5325 करोड़ के 97 कार्य स्वीकृत किए गए हैं। इसके साथ ही अंतर्राज्यीय जुड़ाव एवं आर्थिक महत्व के अंतर्गत 30 करोड़ के कार्यों को स्वीकृति दी गई है। मध्यप्रदेश को 2855 करोड़ की राशि सीआरआईएफ में प्रदान की गई है। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश में 13 हजार 248 किमी लंबाई एनएच की सडक़ों की है। यह मध्यप्रदेश में निरंतर बढ़ी है।   विश्व का सबसे लंबा एक्सप्रेस हाईवे होगा दिल्ली-मुम्बई कॉरीडोर, मध्यप्रदेश होगा लाभान्वित   केन्द्रीय मंत्री गडकरी ने बताया कि भारतमाला योजना के अंतर्गत चंबल अटल प्रोग्रेस-वे के लिए शीघ्र ही आवश्यक प्रक्रिया पूर्ण की जाएगी। यह मार्ग 358 कि.मी. का है। इससे मध्यप्रदेश, उत्तरप्रदेश और राजस्थान की प्रगति तेज होगी। यह एक्सप्रेस-वे मध्यप्रदेश में 309 कि.मी., उत्तरप्रदेश में 17 किमी और राजस्थान में 32 कि.मी. का होगा। उन्होंने दिल्ली-मुम्बई कॉरीडोर का भी जिक्र करते हुए कहा कि एक लाख करोड़ लागत से बनेगा और समय एवं ईंधन की बड़ी बचत में उपयोगी रहेगा। दिल्ली से मुम्बई 12 घंटे में पहुंचना संभव होगा। वर्ष 2023 के पूर्व इसे निर्मित करने का लक्ष्य है। यह विश्व का सर्वाधिक लम्बाई का एक्सप्रेस हाईवे होगा। इस परियोजना में भूमि अधिग्रहण की लगभग 15 हजार करोड़ की राशि की बचत संभव हो रही है। मध्यप्रदेश में यह हाईवे 244 किमी लम्बाई में रहेगा।    केन्द्रीय मंत्री ने कहा कि सडक़ दुर्घटनाओं में कमी लाने के लिए वे प्रतिबद्ध हैं। उन्होंने प्रदेश में नए ड्राइवर ट्रेनिंग सेंटर्स प्रारंभ करने के लिए भी सहमति दी। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश ही नहीं पूरे देश में सडक़ों के अनेक ब्लैक स्पॉट में सुधार कार्य से हादसों में कमी आ रही है। उन्होंने मध्यप्रदेश को सडक़ निर्माण परियोजनाओं और कृषि आधारित लघु उद्योगों के विकास में भरपूर सहयोग कर आत्मनिर्भर भारत के अंतर्गत आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश के लिए सभी स्वीकृतियाँ देने का आश्वासन दिया।      परियोजनाएँ जो लोकार्पित हुई   1. रीवा-मैहर कटनी-स्लीमनाबाद-जबलपुर-लखनादौन फोर लेन, लागत 4348 करोड़, एनएच-30 और 34 लम्बाई 287 किमी   2. ब्यावरा-पचौर-सारंगपुर-शाजापुर-मक्सी-देवास खंड फोर लेन, लागत 1584 करोड़, एनएच-52, लम्बाई 131 किमी.   3. भोपाल-ब्यावरा खंड में लालघाटी से मुबारकपुर, भोपाल आरओबी सहित 6/4 लेन चौड़ीकरण, लागत 374 किमी, एनएच 46 लम्बाई 8 किमी   4. भोपाल-सांची खण्ड में दो लेन, लागत 305 करोड़, एनएच-136, लम्बाई 54 किमी.   5. ग्वालियर-शिवपुरी खण्ड में चार लेन चौड़ीकरण ( नौगांव से सतनवाड़ा ) लागत-1055 करोड़, एनएच-46,  लम्बाई 97 किमी.   6. ग्वालियर-शिवपुर खण्ड में फोर लेन चौड़ीकरण ( मोहना टाउन भाग ) ग्वालियर-झांसी खण्ड में डबरा टाउन और सिमरिया टेकरी से हरीपुर तिराहा के साथ जौरासी मंदिर पहुंच मार्ग ) लागत 79 करोड़, एनएच-46 और     44, लम्बाई 14 किमी.   इसके अलावा आज जो लोकार्पण हुए उनमें दो लेन पेप्ड शोल्डर कार्य- सांची-सागर खंड, रीवा सिरमौर खंड, सागर-छतरपुर खंड और खिलचीपुर-जीरापुर खंड शामिल हैं। इनकी संयुक्त लागत 730 करोड़ रुपये और लम्बाई 214 किमी है। इसी तरह जिन सुदृढ़ीकरण कार्यों का लोकार्पण हुआ है उनमें ब्यावरा-मकसूदनगंज रोड, अंजड़-ठीकरी रोड, जबलपुर-कुंडम शाहपुरा-डिण्डोरी रोड और सागर टोला-कबीर चबूतरा खंड शामिल है। इनकी संयुक्त लागत 6 करोड़ रुपये और लम्बाई 12 किमी है। सीआरआईएफ के अंतर्गत 6 निर्माण कार्य लोकार्पित हुए हैं, जिनकी कुल लागत 275 करोड़ रुपये और लम्बाई 165 किमी है। इनमें नरसिंहपुर-केरपानी-सरसला मार्ग, शिवपुरी लूप मार्ग से शीतलामाता चीनोर मार्ग, मकोड़ा-छीमक-बागवई-करयावटी-सांखनी-घूमेश्वर-बडगौर रोड एवं पगारा-करोद- पिरोदा खुर्द-भूतमड़ी-रूसल्ला-खामखेड़ा मार्ग ( बी.टी ) बरलाई-जागीर-मुण्डला हुसैन धनखेड़ीफाटा से धनखेड़ी जैतपुरा धरमपुरी मार्ग एवं विदिशा जिले में बेतोली रेल्वे फाटक पर रेल्वे ओव्हर ब्रिज शामिल हैं।   इन परियोजनाओं का शिलान्यास हुआ   केन्द्रीय सडक़ परिवहन और राजमार्ग एवं सूक्ष्म, लघु और मध्यम-उद्यम मंत्री नितिन गडकरी ने मुख्यमंत्रीचौहान के साथ आज जिन योजनाओं का शिलान्यास किया है, वे इस प्रकार हैं -   1. हरदा-बैतूल चार लेन मार्ग का चौड़ीकरण ( चिचौली-बैतूल ) लागत 620 करोड़, एनएच-47, लम्बाई 40 किलोमीटर।   2. कटनी बायपास चार लेन चौड़ीकरण - लागत 194, एनएच -30, लम्बाई 20 किलोमीटर।   3. हरदा-बैतूल चार लेन चौड़ीकरण ( हरदा टेमगांव ) - लागत 555 करोड़, एनएच-47, लम्बाई 30 किलोमीटर।   4. इन्दौर-हरदा- चार लेन चौड़ीकरण ( ननासा-पिडगांव )- लागत 867 करोड़, एनएच-47, लम्बाई-47 किलोमीटर।   प्रदेश में 6 मार्गों का सुदृढ़ीकरण कार्य- ( लागत-84 करोड़ ) लम्बाई 172 किलोमीटर   1. इन्दौर-बैतूल एनएच-47   2. अंबुआ से दाहोद एनएच-56   3. गुलगंज-अमानगंज-पवई-कटनी रोड एनएच-43 एक्सटेंशन   4. टीकमगढ़-पृथ्वीपुर-ओरछा रोड-एनएच-539   5. दिनारा-पिछोर रोड- एनएच-346   6. सवाई-माधोपुर ( राजस्थान ) से श्योपुर-गोरस-श्यामपुर रोड-एनएच 552 एक्सटेंशन   सागर-खुरई-बीना खंड के जेरई पर चार लेन आरओबी और जरूआखेड़ा पर दो लेन आरओबी ( लागत 144 करोड़ ) एनएच-934   जिन पुलों का निर्माण कार्य होगा, वे इस प्रकार हैं-   1. एनएच-539 में बेतवा नदी पर पुल   2. एनएच-45 एक्सटेंशन में जबलपुर-डिण्डोरी पर पुल   3. एनएच-47 इन्दौर-बैतूल खण्ड में क्षिप्रा नदी पर 60 करोड़ की लागत से पुल निर्माण।   इन कार्यों के साथ ही सीआरआईएफ में भी 85 करोड़ लागत के 59 किलोमीटर लम्बाई के चार निर्माण कार्य किए जाएंगे।

Dakhal News

Dakhal News 25 August 2020


bhopal, Narottam Mishra, took a dig ,Congress Working Committee meeting

भोपाल। कांग्रेस अध्यक्ष पक्ष को लेकर हुई सीडब्ल्यूसी की बैठक में हुए आखिरकार सोनिया गांधी अंतरिम अध्यक्ष बने रहने का फैसला हुआ। दिन भर चली तमाम सियासी ड्रामे और राहुल गांधी की बयानबाजी ने भाजपा को भी खूब मौका दिया। वही अब मप्र के गृह एवं जेल मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने भी कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक को हास्यास्पद बताते हुए पूरे घटनाक्रम को  स्क्रिप्टेड (पहले से तय) बताया है।    मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने मंगलवार को मीडिया से बातचीत करते हुए कांग्रेस की वर्किंग कमेटी की बैठक पर तंज कसा है। उन्होंने कहा है कि कांग्रेस की वर्किंग कमेटी की बैठक में अध्यक्ष पद को लेकर जो भी कुछ हुआ वह सब स्क्रिप्टेड था। हास्यास्पद यह रहा कि इतने पुराने कांग्रेसी कपिल सिब्बल, गुलाम नबी आजाद जैसे नेता भी गद्दारों की श्रेणी में आ गए। गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने चुटकी लेते हुए कहा कि मैंने कल कहा था की हेड मास्टर का लडक़ा ही फस्र्ट आता है लेकिन आज उसमें यह अलग हुआ। कांग्रेस की सीडब्ल्यूसी बैठक में हेड मास्टर खुद ही फस्र्ट आ गए।   सडक़ों के मामले में नितिन गडकरी का अपना एक इतिहासकेन्द्रीय मंत्री नितिन गडकरी द्वारा मध्यप्रदेश में नेशनल हाईवे के भूमि पूजन एवं लोकार्पण कार्यक्रम पर गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि पूरा भारत जानता है की सडक़ों के मामले में नितिन गडकरी जी का अपना एक इतिहास है। उनको पहचान जाता है। आज गडकरी जी लगभग 45 सडक़ों की एक साथ शुरुआत करेंगे।   कैबिनेट बैठक में होगी आत्मनिर्भर भारत  पर चर्चाआज होने जा रही कैबिनेट बैठक के बारे में जानकारी देते हुए मंत्री मिश्रा ने कहा कि आत्मनिर्भर भारत के लिए आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश जरूरी है और आत्मनिर्भर मध्य प्रदेश बनाने के लिए मंत्रियो का एक समूह बनाया गया था। उन मंत्रियों के समूह की दो दो तीन तीन बैठकें हो चुकी हैं। उसी के प्रेजेंटेशन में आज हम अगले कदम की ओर आगे बढ़ेंगे।   कोरोना को हराना हमारा संकल्प मप्र में लगातार बढ़ते कोरोना ग्राफ पर मंत्री मिश्रा ने कहा कि मैं पिछले 4 महीने से यह बात कह रहा हूं आज भी वही बात कह रहा हूं कि जब तक वैक्सिंग नहीं आता तब तक हमें कोरोना के साथ ही रहने की आदत डालनी होगी। लेकिन मध्यप्रदेश का रिकवरी रेट बहुत ज्यादा है लगभग 80 प्रतिशत लोग स्वस्थ होकर अपने घरों पर जा रहे हैं। हमारा संकल्प है कि हम कोरोना को जल्द ही हराएंगे।

Dakhal News

Dakhal News 25 August 2020


bhopal, Union Minister Gadkari , over 9404 crore ,construction works , MP on Tuesday

भोपाल। केंद्रीय भूतल परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी मंगलवार, 25 अगस्त को वर्चुअल कांफ्रेंस के जरिए मध्यप्रदेश को 9404 करोड़ के निर्माण कार्यों की सौगात देंगे। कार्यक्रम के दौरान भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष व सांसद विष्णुदत्त शर्मा भी उपस्थित रहेंगे।प्रदेश भाजपा अध्यक्ष विष्णुदत्त शर्मा ने सोमवार को इसकी जानकारी देते हुए बताया कि केंद्रीय मंत्री गडकरी मंगलवार को सुबह 11.30 बजे वर्चुअल कांफ्रेंस के जरिए प्रदेश में पूर्ण हो चुके निर्माण कार्यों का लोकार्पण करेंगे और नए स्वीकृत निर्माण कार्यों का शिलान्यास करेंगे। उन्होंने बताया कि जिन निर्माण कार्यों का लोकार्पण और शिलान्यास होने जा रहा है, उनमें सड़कों, पुलों आदि के निर्माण, सुदृढ़ीकरण तथा उन्नयन के काम शामिल हैं। उन्होंने बताया कि जिन निर्माण कार्यों का लोकार्पण एवं शिलान्यास होने जा रहा है, उनमें 02 ओवरब्रिज, 06 पुल तथा 1137.035 कि.मी. लंबाई की सड़कें शामिल हैं। शर्मा ने आशा जताई कि इन निर्माण कार्यों से प्रदेश में शिवराज जी की सरकार द्वारा शुरू किए गए विकास अभियान को और गति मिलेगी।

Dakhal News

Dakhal News 24 August 2020


bhopal, Uma bids, Congress president

भोपाल। कांग्रेस पार्टी में अध्यक्ष पद को लेकर घमासान मचा हुआ है। वहीं दूसरी तरफ सीडब्ल्यूसी की बैठक में राहुल गांधी द्वारा नेतृत्व परिवर्तन की मांग करने वाले नेताओं के भाजपा के साथ मिली भगत के बयान ने मामले ने भी तूल पकड़ लिया है। शीर्ष नेताओं ने इस पर नाराजगी जताई है। वहीं अब पूर्व केन्द्रीय मंत्री और दिग्गज भाजपा नेत्री उमा भारती ने कांग्रेस में मची कलह पर तंज कसा है। भाजपा की राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और पूर्व केन्द्रीय मंत्री उमा भारती सोमवार दोपहर भाजपा प्रदेश कार्यालय पहुंची। यहां पत्रकारों से चर्चा करते हुए कांग्रेस अध्यक्ष चुनाव को लेकर मची खींचतान पर उमा भारती ने कहा कि अब गांधी- नेहरू परिवार का अस्तित्व समाप्त हो गया है। उनका राजनैतिक वर्चस्व समाप्त हो गया है, कांग्रेस का अस्तित्व समाप्त हो गया है। ऐसे में अब कौन पद पर रहता है, कौन नहीं रहता इसका महत्व खत्म हो गया है। इनकी नवाबी चली गई और रिक्शे- टांगे चल रहे हैं। उमा भारती ने कांग्रेस को सलाह देते हुए कहा कि कांग्रेस को अब गांधी की और वापस लौटना चाहिए, कांग्रेस का पुराना व्यक्ति जो गांधीवादी सोच का हो उसे पार्टी का नेतृत्व करना चाहिए। उन्होंने कहा कि कांग्रेस अब असली गांधी, स्वदेशी गांधी की ओर वापस लौटे, जिसमें विदेशी और कोई एलिमेंट नहीं था, गांधी से मुक्ति पाओ स्वदेशी गांधी की ओर मुड़ो। उन्होंने कहा कि हमारा देश परिवारवाद की राजनीति से मुक्त हो, भारतीयों को अगर गर्व करना है तो, भारत की महिलाओं पर गर्व करें। सुशांत सिंह मामले पर यह कहा-इस दौरान उमा भारती ने फिल्म अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत मामले में सवाल पूछे जाने पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि मुझे दुख हुआ उनकी आत्महत्या की बात सुनकर। हम सीबीआई की जांच को प्रभावित नहीं कर सकते, इस पूरे मामले में राजनीति ना करें और क्षेत्रवाद की राजनीति ना करें। साथ ही उन्होंने रिया चक्रवर्ती को लेकर कहा कि महिला की इज्जत को अभी ट्रायल पर नहीं डालना चाहिए, जब तक वह अपराधी प्रमाणित ना हो जाए।

Dakhal News

Dakhal News 24 August 2020


bhopal,Congress divided ,into two parts, Kamal Nath ,supported Sonia

भोपाल। कांग्रेस पार्टी में नेतृत्व जिम्मेदारी की बागडोर नए हाथों में सौंपने को लेकर विवाद और मतभेद की स्थिति बन गई है। 23 कांग्रेस नेताओं ने सोनिया गांधी को चिट्ठी लिखकर जिम्मेदारी गांधी परिवार से अलग नए व्यक्ति को सौंपने की मांग की है। वहीं कई नेता गांधी परिवार से ही अध्यक्ष की वकालत कर रही है। नई दिल्ली में आज सोमवार को कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक होने जा रही है, जिसमें सोनिया गांधी पार्टी अंतरिम अध्यक्ष पद से इस्तीफा देने का मन बना चुकी है। वहीं अब मप्र में भी कांग्रेस अध्यक्ष को लेकर नई बहस छिड़ गई है।   दरअसल, मप्र में कांग्रेस नेता राष्ट्रीय अध्यक्ष को लेकर दो हिस्सों में बंट गए है। पार्टी के वरिष्ठ नेता चाहते हैं कि सोनिया गांधी ही पार्टी की जिम्मेदारी संभाले। वहीं पार्टी के युवा नेता एक बार फिर राहुल गांधी पर विश्वास कर उनको जिम्मेदारी देने के पक्ष में हैं। इस बीच पूर्व सीएम और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने खुलकर सोनिया गांधी को समर्थन किया है। उन्होंने रविवार देर रात एक के बाद एक कई ट्वीट कर सोनिया गांधी को ही अध्यक्ष पद की जिम्मेदारी संभालने का समर्थन किया। उन्होंने अपने ट्वीट में कहा कि- ‘ मुझे इंदिरा गांधी जी, संजय गांधी, राजीव गांधी, सोनिया गांधी और राहुल गांधी के साथ काम करने का सौभाग्य मिला है। मुझे लगभग 40 वर्षों तक , लंबे समय के रूप में संसद सदस्य के रूप में कांग्रेस पार्टी की सेवा करने का सौभाग्य मिला है। मैं कई वर्षों तक अ.भा.कांग्रेस पार्टी का महासचिव भी रहा।   एक अन्य ट्वीट कर उन्होंने कहा ‘हमें यह नहीं भूलना चाहिए कि श्रीमती सोनिया गांधी के खिलाफ तमाम झूठी अफवाहों के बावजूद  उन्होंने 2004 में कांग्रेस पार्टी की जीत का नेतृत्व किया और अटल बिहारी वाजपेयी को घर पर बैठाया। श्रीमती सोनिया गांधी के नेतृत्व पर कोई भी सुझाव या आक्षेप बेतुका है। मैं श्रीमती सोनिया गांधी से अपील करता हूं कि वे अध्यक्ष के रूप में कांग्रेस पार्टी को मजबूती प्रदान करें और कांग्रेस का नेतृत्व करती रहें।   जीतू पटवारी और अरुण यादव ने राहुल गांधी को बताया अपना नेतावहीं दूसरी तरफ कांग्रेस के युवा नेता पूर्व मंत्री जीतू पटवारी और अरुण यादव ने राहुल गांधी को अपना नेता बताया है। जीतू पटवारी ने ट्वीट कर कहा है कि राहुल गांधी मेरे नेता है और मुझे उन पर गर्व है।   वहीं पूर्व केन्द्रीय मंत्री अरुण यादव ने भी राहुल गांधी का समर्थन करते हुए ट्वीट कर कहा ‘जिस दौर में आज पार्टी का कार्यकर्ता जहरीली विचारधारा से संघर्ष कर रहा है, ईमानदार मूल्यों और आदर्शों का क्षरण वह अपनी आंखों से देख भी रहा है उस दौर में कांग्रेस की आशा की किरण सिर्फ और सिर्फ श्री राहुल गांधी जी ही है। उन्हें अपनी जिद छोडक़र देश के करोड़ो कार्यकर्ताओं की भावनाओं के अनुरूप पार्टी व देशहित में पूर्णकालिक अध्यक्ष का दायित्व संभालना ही चाहिए ताकि हर कार्यकर्ता बब्बर शेर के रूप में अपनी पहचान स्थापित कर सके।

Dakhal News

Dakhal News 24 August 2020


bhopal, Bank fraud case, CBI raids ,several locations, MP

  नई दिल्ली। केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने शनिवार को मध्य प्रदेश के मुरैना में बैंक धोखाधड़ी मामले को लेकर कई स्थानों पर छापे मारे। केएस ऑयल कंपनी के दफ्तरों में सीबीआई की चार टीमें तलाशी ले रही हैं और कंपनी के निदेशक के कार्यालयों एवं आवास पर बैंक धोखाधड़ी से जुड़े दस्तावेज खंगाले जा रहे हैं।   उल्लेखनीय है कि एक जमाने में केएस ऑयल कंपनी के निदेशक रमेश चंद्र गर्ग को मस्टर्ड आयल किंग कहा जाता था। वर्ष 2008-09 में आयकर विभाग ने भी इस ग्रुप के खिलाफ कार्रवाई की थी। तब से केएस ऑयल कंपनी का कारोबार बंद बताया गया है। कंपनी पर बैंकों की करीब चार हजार करोड़ की देनदारी बाकी है। सीबीआई के अधिकारी कंपनी के निदेशक रमेशचंद्र गर्ग से पूछताछ कर रहे हैं।  

Dakhal News

Dakhal News 22 August 2020


bhopal,Kamal Nath, demands government , start relief , rescue operations

भोपाल। पिछले 24 घंटों से लगातार हो रही मूसलाधार बारिश से मप्र जलमग्न हो गया है। नर्मदा नदी खतरे के निशान से ऊपर बह रही है। जिससे आस पास के निचले ईलाकों को खाली कराया जा रहा है। सीएम शिवराज पहले ही प्रशासन को समुचित व्यवस्था के निर्देश दे चके हैं। वहीं अब पूर्व सीएम और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने ट्वीट कर सरकार से तत्काल राहत कार्य और बचाव कार्य शुरू करने की मांग की है।   कमलनाथ  ने शनिवार सुबह ट्वीट कर कहा ‘प्रदेश के कई हिस्सों में अनवरत बारिश का दौर जारी है। कई निचले हिस्सों में, पानी भर गया है, जलभराव से कई मार्ग अवरुद्ध हो गये है। मैं मुख्यमंत्री से माँग करता हूँ कि डूब क्षेत्र में आने वाले निचले इलाक़ों में तत्काल राहत व बचाव के कार्य शुरू करवाये जाए, वहाँ रहने वालों को सुरक्षित स्थानो पर पहुँचाया जाए। खतरे वाले स्थलों पर जाने पर रोक लगायी जाए, वहाँ सुरक्षा के इंतज़ाम किये जाए। बचाव व राहत के कार्य पूरी मुस्तैदी से किये जाए।

Dakhal News

Dakhal News 22 August 2020


bhopal, Flooding conditions ,torrential rains,MP, CM gave, necessary guidelines

भोपाल। मध्य प्रदेश में भारी बारिश का दौर जारी है। लगातार हो रही मूसलाधार बारिश से प्रदेश के अधिकांश जिलों में बाढ़ की स्थिति निर्मित हो गई है। नदिया और नाले उफान पर है। आम जीवन बुरी तरह से प्रभावित हो गया है। राजधानी भोपाल में पिछले 24 घंटे से जारी भारी बारिश के बाद राजधानी के आसपास के नदी नाले उफान पर है। बड़े तालाब का पानी लेवल तक पहुुंच गया है।  केरवा डेम और भदभदा डेम लबालब होने क बाद आज शनिवार को भदभदा के 4 खोले गए। डेम के गेट खुलने पर प्रशासन के द्वारा पुख्ता इंतजाम किए गए। भदभदा के 4 गेट खुले पहला सुबह 8.40, दूसरा 10 बजे, तीसरा 10.30 और चौथा 11.15 बजे खुला।     वहीं सीएम शिवराज ने शनिवार सुबह बैठक कर अधिकारियों को निर्देश दिए है। उन्होंने ट्वीट कर बाड़ में फंसे लोगों को मदद मुहैया कराने का आश्वासन दिया है। उन्होंने ट्वीट कर कहा ‘प्रदेश के लगभग सभी जिलों में मूसलाधार वर्षा हो रही है। आज मैंने बैठक कर व्यवस्थाओं और टीम को मुस्तैद रखने के निर्देश दिये हैं। प्रदेश का कंट्रोल रूम 24 घंटे सक्रिय रहेगा। हर जिले में आपदा नियंत्रण के लिए टीम तैयार है। कोई कठिनाई हो, तो सूचित करें; तत्काल मदद पहुंचेगी। प्रदेश में हो रही लगातार वर्षा से उत्पन्न विपरीत परिस्थितियों से बचाव के लिए अलर्ट रहें।   एक अन्य ट्वीट कर उन्होंने कहा ‘बाढ़ की स्थिति की सूचनाओं के आदान-प्रदान व समन्वय स्थापित करने के लिए जिला कलेक्टर अपने सीमावर्ती जिलों के कलेक्टर के साथ सतत संपर्क में रहें। समस्त व्यवस्थाएं सुचारू रहें, सुनिश्चित हो। जहां जल भराव की स्थिति है, संबंधित अधिकारी वहां के लोगों को सुरक्षित स्थानों पर शिफ्ट करने की व्यवस्था करें। राहत स्थलों पर भोजन पानी और आश्रय की समुचित व्यवस्था सुनिश्चित की जाये। बाढ़ की स्थिति में आपात राहत के लिए सभी उपयोगी उपकरण और बचाव दल आदि पूरी तरह से तैयार रहें।

Dakhal News

Dakhal News 22 August 2020


bhopal, Kamal Nath ,wrote a letter , CM Shivraj,  anti-daughter

भोपाल। पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कन्या विवाह के लिए गरीब परिवारों को दी जाने वाली राशि 51 हजार से घटाकर 28 हजार रुपये करने के शिवराज सरकार के निर्णय को महिला एवं बेटी विरोधी बताया है। उन्होंने मुख्यमंत्री से मांग की है कि वे बेटी विरोधी इस निर्णय को वापस लें। कमलनाथ ने इस संबंध में शुक्रवार को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को पत्र लिखा है।   पूर्व मुख्यमंत्री ने अपने पत्र में कहा कि कन्या विवाह राशि कम करने का निर्णय इस बात को सिद्ध करता है कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चैहान बोलते कुछ हैं और करते कुछ हैं। उन्होंने कहा कि अपने हर भाषण में प्रदेश की महिला और बेटियों से बहन और भांजी का रिश्ता बताते हैं, दूसरी ओर उनके हितों के साथ कुठाराघात करते हैं। उन्होंने कहा कि समाज के सभी वर्गो को समान न्याय के लिए कांग्रेस सरकार कटिबद्ध थी। मेरी सरकार ने कन्या विवाह/निकाह योजना में देय राशि को 28000 रुपये से बढ़ाकर 51000 रुपये किया था। सरकार के इस निर्णय से कन्याओं के विवाह के लिए अतिरिक्त सहायता प्राप्त होने से परिवारों में खुशी थी।   कमलनाथ ने सरकार के फैसले पर दुख जताते हुए कहा कि मुझे यह जानकर दुख हुआ है कि नव दम्पत्तियों को अपना जीवन खुशहाल बनाने के लिए जो राशि सरकार द्वारा कन्याओं को प्रदान की जाती थी, उसे कम कर पुन: 28,000 रुपये किया जा रहा है। आपकी सरकार का यह निर्णय गऱीब परिवारों और विशेषकर महिलाओं के हितों पर कुठाराघात है। यह निर्णय कन्या और महिला वर्ग के प्रति आपकी कथनी और करनी के अंतर को भी प्रमाणित करता है।   उन्होंने कहा कि आज समाज का प्रत्येक परिवार कोरोना महामारी से उत्पन्न आर्थिक संकट से जूझ रहा है, ऐसे समय में सरकार का दायित्व है कि समाज के प्रत्येक वर्ग को राहत बढ़ाने के निर्णय लें, परन्तु खेद का विषय है कि सरकार द्वारा कन्याओं के विवाह में दी जाने वाली राशि को कम किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि प्रदेश की बेटियों के हितों के संरक्षण के लिये मैं और मेरी पार्टी प्रतिबद्ध है और कन्याओं के सम्मान के लिए हम सरकार को मजबूर करेंगे कि वह उनके कल्याणार्थ लिये गये निर्णयों को कायम रखें।

Dakhal News

Dakhal News 21 August 2020


Bhopal, Police will try, bring justice, sister suffering ,three divorces, Shivraj

भोपाल। मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में शुक्रवार को एक तीन तलाक कहकर पति द्वारा अपनी पत्नी से रिश्ता तोडऩे का मामला सामने आया है। इस मामले में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश की पुलिस तलाक पीडि़त बहन को न्याय दिलाने का हर संभव प्रयास करेगी।   मुख्यमंत्री सिवराज सिंह चौहान ने शुक्रवार को ट्वीट के माध्यम से कहा है कि -‘वर्षों की लड़ाई के बाद हमारी मुस्लिम बहनों के स्वाभिमान और न्याय के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में केंद्र सरकार ने ट्रिपल तलाक खत्म करने का कानून बनाया, लेकिन अभी भी कुछ निकृष्ट लोग इस कानून से खिलवाड़ कर रहे हैं।’   मुख्यमंत्री ने अगले ट्वीट में लिखा है कि - ‘भोपाल में आज सुबह एक मुस्लिम बहन ने अपने पति द्वारा मोबाइल पर मैसेज भेजकर ट्रिपल तलाक दिए जाने को लेकर एफआईआर दर्ज कराई है। मैं उस बहन को विश्वास दिलाता हूँ कि मध्यप्रदेश पुलिस उन्हें न्याय दिलाने का हरसंभव प्रयास करेगी। मैंने इस संदर्भ में प्रदेश के डीजीपी से बात की है कि मध्यप्रदेश पुलिस, बैंगलोर पुलिस के साथ समन्वय स्थापित कर इस मामले में उचित कार्रवाई करे और हमारी मुस्लिम बहन को न्याय दिलाए।’   दरअसल, भोपाल के कोहेफिजा थाना में एक महिला ने शिकायत दर्ज कराई है कि उसके पति ने मोबाइल पर वीडियो कॉल के माध्यम स तीन तलाक कहकर उससने रिश्ता तोड़ लिया। कोहेफिजा थाना प्रभारी अनिल बाजपेयी ने बताया कि 42 वर्षीय महिला ने अपने पति के खिलाफ प्रकरण दर्ज कराया है। महिला ने बताया कि उसका 04 अक्टूबर 2001 में नूर मस्जिद के सामने कोहेफिजा निवासी फैज आलम अंसारी से मुस्लिम रीति-रिवाजों के अनुसार निकाह हुआ था। उनके दो बच्चे हैं। शादी के बाद वह पति के साथ सिंगापुर में रहने लगी थी। पति-पत्नी के पास सिंगापुर की नागरिकता भी है, लेकिन कुछ समय बीत जाने के बाद फैल उसे दहेज के लिए प्रताडि़त करने लगा। वर्ष 2013 में फैज परिवार सहित बेंगलुरु आ गया। वर्तमान में वह बेंगलुरु के एक होटल में जनरल मैनेजर हैं। इसी साल 10 जून को फैज ने दहेज की मांग को लेकर अपनी पत्नी के साथ विवाद करना शुरू कर दिया।  फैज ने उस पर अनर्गल आरोप लगाए और 25 लाख रुपये की डिमांड करते हुए उसे घर से निकाल दिया। इसी बीच गत 31 जुलाई की रात में फैज ने मोबाइल पर वाट्सएप कॉल करके कहा कि अब मेरा तुमसे कोई संबंध नहीं है। मैं अपने वैवाहिक संबंध समाप्त कर रहा हूं। तुम्हें इसी वक्त तलाक दे रहा हूं और उसने तीन बार तलाक कहकर उससे अपना रिश्ता तोड़ लिया। थाना प्रभारी बाजपेयी की मुताबिक, महिला की शिकायत पर आरोपित पति फैज आलम अंसारी के खिलाफ प्रकरण दर्ज कर लिया है और फिलहाल मामले की जांच जारी है।

Dakhal News

Dakhal News 21 August 2020


indore, CM congratulates, fourth consecutive, cleanest city , country

इंदौर। स्वच्छता के मामले में प्रदेश का इंदौर शहर लगातार चौथी बार नंबर-1 बन गया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को दिल्ली में ऑनलाइन कार्यक्रम में स्वच्छता सर्वेक्षण के परिणामों की घोषणा की। दूसरे नंबर पर गुजरात का सूरत शहर और तीसरे नंबर महाराष्ट्र का नवी मुंबई रहा है। स्वच्छता सर्वेक्षण-2020 लीग के तीनों क्वार्टर में भी इंदौर अव्वल रहा था।   भोपाल में वर्चुअल प्लेटफॉर्म पर मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान, पूर्व महापौर मालिनी गौड़, कलेक्टर मनीष सिंह, निगमायुक्त प्रतिभा पाल और पूर्व निगमायुक्त आशीष सिंह मौजूद थे। मध्यप्रदेश को इस सर्वेक्षण में कुल 10 अवॉर्ड मिले। जिन निकायों को अवार्ड मिले हैं उनमें इंदौर के अलावा भोपाल, जबलपुर, बुरहानपुर, रतलाम, उज्जैन, नगर पालिका सिहोरा, नगर परिषद शाहगंज, नगर परिषद कांटाफोड़ और छावनी परिषद महू कैंट शामिल हैं।   इंदौर में आज घर-घर जलेंगे दीप चौथी बार नंबर-1 बनने पर इंदौर में खुशी की लहर है। शहर में जश्न मनाने की तैयारियां सांसद शंकर लालवानी द्वारा करवाई जा रही हैं। शाम को घर-घर दीप जलेंगे और थालियां बजाई जाएंगी। सांसद ने लोगों से अपील की है कि शुक्रवार सुबह घर-घर आने वाले सफाईकर्मियों का सम्मान करें। उन्हें माला पहनाकर आरती उतारें और मिठाई खिलाएं। रवींद्र नाट्यगृह में 400 लोगों का एक समारोह भी होगा, जिसमें सभी जोन के सफाइकर्मियों के प्रतिनिधि शामिल होंगे।     मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने इंदौर के लगातार चौथी बार देश के स्वच्छ शहर चुने जाने पर इंदौरवासियों को बधाई दी है।मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने गुरुवार को ट्वीट करते हुए कहा है कि -'आज मध्यप्रदेश के लिए गर्व और प्रसन्नता का क्षण हैं। स्वच्छ सर्वेक्षण 2020 में देश के सबसे स्वच्छ शहर में प्रथम स्थान के सम्मान के लिए इंदौरवासियों, अधिकारियों एवं स्वच्छता योद्धाओं को बधाई। इस प्रोत्साहन और सम्मान के लिए यशस्वी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी का हृदय से आभार।' मुख्यमंत्री ने केंद्रीय मंत्री हरदीप पुरी के प्रति भी आभार व्यक्त किया है।’

Dakhal News

Dakhal News 20 August 2020


bhopal, MP,Income tax department ,raids ,10 locations ,real estate businessman

भोपाल। मध्यप्रदेश में आयकर विभाग द्वारा गुरुवार सुबह भवन निर्माण और रियल एस्टेट के कारोबार से जुड़े एक व्यवसायी के इंदौर-भोपाल के 10 ठिकानों पर छापामार कार्रवाई की गई। फिलहाल कार्रवाई जारी है और विभागीय टीम व्यवसायी के दफ्तर और घरों में कागजात खंगाल रही है। जिन ठिकानों पर कार्रवाई की जा रही है, जहां सुरक्षा की दृष्टि से भारी पुलिसबल भी तैयान किया गया है।   जानकारी के मुताबिक, आयकर विभाग की अलग-अलग टीमों द्वारा पुलिस के साथ गुरुवार सुबह फैथ बिल्डर्स के भोपाल और इंदौर स्थित 10 ठिकानों पर एक साथ दबिश दी गई। आयकर विभाग द्वारा फैथ बिल्डर और एसोसिएट के आफिस और इंदौर के कुछ ठिकानों पर छापामार कार्रवाई की जा रही है। भोपाल में यह कार्रवाई स्वर्ण जयंती  पार्क शाहपुरा, रातीबड़ के सामने फेथ बिल्डर का प्रोजेक्ट, चूना  भट्टी  में गोल्डन टेम्पल में जारी है।   बताया जा रहा है कि लॉकडाउन के दौरान रियल इस्टेट का कारोबार ठप पड़ा था उस दौरान फेथ बिल्डर्स द्वारा कड़ी कमाई गई और कुछ ही दिनों में कई कंपनियों में उसमें पैसा लगाया। इस कार्रवाई को आयकर विभाग के 150 से अधिक अधिकारियों द्वारा अंजाम दिया जा रहा है। भोपाल के में आयकर विभाग की टीम  बिल्डर्स के ठिकानों पर दस्तावेज खंगाल रही है। बताया जा रहा है कि यह फर्म राघवेंद्र सिंह तोमर की है और वे आईपीएस संतोष सिंह गौर के रिश्तेदार बताये जा रहे हैं। भोपाल में इस बिल्डर का आफिस कोलार रोड के चूना भट्टी इलाके में है।

Dakhal News

Dakhal News 20 August 2020


bhopal, BJP, misleading people,giving lollipops,declaration, Kamal Nath

भोपाल। देश के पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय राजीव गांधी की 76वीं जयंती के अवसर पर मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने प्रदेश कांग्रेस पहुंचकर उनकी प्रतिमा पर पुष्पांजलि अर्पित की। इस अवसर पर कमलनाथ ने मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि राजीव गांधी ने देश को एक नई ऊर्जा प्रदान की। राजीव गांधी कंप्यूटर क्रांति लेकर आए हैं, उन्हें मिस्टर कंप्यूटर भी कहा जाता था। आईटी के क्षेत्र में भी राजीव गांधी का योगदान रहा है। उन्होंने कई कॉलेज और संस्थान प्रारम्भ किए। राजीव गांधी ने आईटी की शिक्षा व ज्ञान के लिए प्रावधान बनाया। रेल टिकट के लिए कंप्यूटर लगाए जा रहे थे तो भारतीय जनता पार्टी ने इसका विरोध किया था। अगर राजीव गांधी आज हमारे बीच होते तो आज देश का चित्र कुछ और होता।   इस दौरान मीडिया से बातचीत करते हुए कमलनाथ ने प्रदेश की जनता को भाजपा से सचेत रहने की अपील की है। उन्होंने भाजपा पर निशाना साधते हुए कहा कि भाजपा उपचुनावों को देखते हुए घोषणाओं का अंबार लगा रही है। मैं प्रदेश वासियों को सतर्क करना चाहता हूँ कि वो सावधान रहें, भाजपा उपचुनाव को देखते हुए रोज़ एक घोषणा करेगी। जिसका ना सर ना पैर, ना गंभीरता, ना वो धरातल पर आ पायेगी। उन्होंने तंज कसते हुए कहा कि भाजपा सिर्फ घोषणा रूपी लॉलीपोप देने का काम कर रही है, प्रदेश की भोली- भालीं जनता को गुमराह करने का काम कर रही है। इनकी घोषणाएँ कभी पूरी नहीं होगी। सिर्फ इसके माध्यम से जनता को भ्रमित करने का ये प्रयास करेंगे। जनता इनकी घोषणाओं की असलियत व सच्चाई जानती है।

Dakhal News

Dakhal News 20 August 2020


bhopal, Kamal Nath, angry over, decision,Shivraj government, warns, get on the road

भोपाल। मध्य प्रदेश की शिवराज सरकार एक के बाद एक पूर्ववर्ती कमलनाथ सरकार की योजनाओं को बंद करने या बदलाव करने के निर्णय ले रही है। इसी क्रम में शिवराज सरकार ने पूर्ववर्ती कमलनाथ सरकार के एक और फैसले को पलट दिया है। सरकार ने मुख्यमंत्री कन्या विवाह एवं निकाह योजना में बड़ा बदलाव करते हुए योजना के तहत 51 हजार की राशि देने से इंकार कर दिया है। अब शिवराज सरकार योजना के तहत 28 हजार रुपये देगी। प्रदेश सरकार के इस फैसले पर कांग्रेस ने कढ़ी आपत्ति जताई है। पूर्व सीएम कमलनाथ ने सरकार को आड़े हाथों लेते हुए सडक़ पर उतरने की चेतावनी दी है।   कन्यादान योजना में बदलाव के निर्णय पर पूर्व सीएम कमलनाथ प्रदेश सरकार पर जमकर बरसे हैं। उन्होंने ट्वीट कर सीएम शिवराज शिवराज पर बड़ा हमला बोला है। कमलनाथ ने अपने ट्वीट में कहा ‘शिवराज जी, आपकी सरकार आते ही आपने हमारी सरकार द्वारा प्रारंभ कई जनहितैषी महत्वपूर्ण योजनाएँ बंद कर दी व कई जनहित के अभियानों को बंद का दिया। आपने हमारी सरकार की किसान ऋण माफ़ी योजना को रोक दिया, 100 रुपये में 100 यूनिट बिजली की हमारी योजना को रोक दिया, माफिय़ाओं के खिलाफ अभियान को बंद कर दिया, मिलावट के खिलाफ शुद्ध के लिये युद्ध के हमारे अभियान को बंद कर दिया और अब आपकी सरकार, हमारी सरकार द्वारा कन्या विवाह/ निकाह योजना में 28 हजार की राशि को बढ़ाकर 51 हजार करने के निर्णय पर रोक लगाने का निर्णय सुना रही है। उन्होंने आगे अपने ट्वीट में सीएम शिवराज पर तंज कसते हुए कहा ‘महंगाई के इस दौर में कन्या विवाह की राशि काफ़ी कम थी इसलिये हमने बेटियों के हित में निर्णय लेते हुए इस राशि को बढ़ाया था। आपको तो कोरोना के इस संकट काल को देखते हुए इस राशि को और बढ़ाना चाहिये लेकिन आपके मंत्री तो इस राशि को कम करने का निर्णय सुना रहे हैं। आप ख़ुद को मामा कहलवाते हो और  आपकी सरकार भाँजियो का ही अहित करने में लग गयी है।   प्रदेश सरकार को चेतावनी देते हुए कमलनाथ ने कहा है कि ‘कैसे मामा हो आप ? प्रदेश की बेटियों के हित में लिये गये हमारी सरकार के निर्णय को हम किसी भी सूरत में बदलने नहीं देंगे। यदि आपने इस निर्णय को बदला और कन्याओ को बढ़ी हुई राशि नहीं दी तो कांग्रेस इसके विरोध में प्रदेश भर में सडक़ों पर उतरेगी, हम चुप नहीं बैठेंगे।

Dakhal News

Dakhal News 19 August 2020


bhopal, Another Minister , MP, Mohan Yadav ,Corona positive

भोपाल। मध्य प्रदेश के कोरोना संक्रमण के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। आम से लेकर खास तक हर कोई इसकी चपेट में आ रहा है। खासतौर से मप्र में भाजपा नेताओं पर कोरोना संक्रमण के मामले भी ज्यादा देखने को मिल रहे हैं। इसी क्रम में मप्र में शिवराज कैबिनेट के एक और मंत्री कोरोना संक्रमित निकले है। उच्च शिक्षा मंत्री डा. मोहन यादव की कोरोना जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। मंगलवार रात इसकी जानकारी उन्होंने खुद ट्वीट कर दी है। मंत्री डा. यादव को ईलाज के लिए इंदौर के अरबिंदो अस्पताल में भर्ती कराया गया है।   कोरोना संक्रमित होने के बाद मोहन यादव ने ट्वीट किया। उन्होंने लिखा कि 'मेरा कोरोना टेस्ट पॉजिटिव आया है, इसलिए अरबिंदो हॉस्पिटल आ गया हूं। वैसे बाबा महाकाल की कृपा से मैं स्वस्थ हूं। खास बात यह है कि मोहन यादव दो दिन पहले सोमवार को भाजपा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया के उज्जैन के दौरे दौरान मोहन यादव भी उनके साथ थे। इसके अलावा ज्योतिरादित्य सिंधिया मोहन यादव के घर भी गए थे। इसके बाद महाकाल की सवारी के पूजन के समय और कालभैरव मंदिर भी मोहन यादव ज्योतिरादित्य सिंधिया के साथ थे।   बड़े नेताओं के संपर्क में रहे, संक्रमण का खतरा बढ़ाइसके साथ ही मंत्री मोहन यादव ने दिनों में भाजपा के कई वरिष्ठ नेताओं से इंदौर में भी मुलाकात की है। 17 अगस्त को पूरे दिन मोहन यादव उज्जैन में ज्योतिरादित्य सिंधिया के साथ कार्यक्रमों में भाग लेते रहे हैं। इसके बाद सिंधिया के साथ ही उन्होंने भाजपा सांसद अनिल फिजोरिया और कई बड़े नेताओं से मुलाकात की है। इससे पहले 15 अगस्त को उन्होंने इंदौर में पूर्व लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन और भाजपा महासचिव कैलाश विजयवर्गीय से भी मुलाकात की है। मोहन यादव ने दोनों नेताओं से घर जाकर मुलाकात की थी। 18 अगस्त को रात में उन्होंने ट्वीट कर जानकारी दी है कि उनकी रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई है। इसके बाद दूसरे बड़े नेताओं पर भी कोरोना का खतरा बढ़ गया है।   पहले भी संक्रमित हो चुके है सिंधियाबता दें पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया को इससे पहले कोरोना हो चुका है। वो और उनकी माता जून महीने में महामारी के चपेट में आए थे। दिल्ली के एक अस्पताल में दोनों का इलाज भी चला था। वही इसके अलावा मप्र सरकार में सीएम शिवराज के अलावा कोरोना संक्रमित मंत्रियों की संख्या अब 5 हो गई है। अरविंद भदौरिया, तुलसी सिलावट, रामखेलावन पटेल और विश्वास सारंग के बाद अब मोहन यादव को कोरोना हो हुआ है। 

Dakhal News

Dakhal News 19 August 2020


bhopal, Digvijay Singh ,demands Center ,GI tag , Basmati Paddy,MP

भोपाल। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता, प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह ने भी मप्र के बासमती चावल को जीई टैग दिलाने की वकालत की है। उन्होंने केन्द्र सरकार से प्रदेश के बासमती धान को जीआई टैग दिलाने की मांग की है, साथ ही मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान पर निशाना साधते हुए एक पत्र लिखा है, जिसमें उन्होंने कहा है कि घडिय़ाली आंसू मत बहाइये। पीएम आवास पर धरना देने के लिए मेरे साथ दिल्ली चलिए।   वरिष्ठ कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने मंगलवार को एक वीडियो ट्वीट किया है, जिसमें उन्होंने कहा है कि ‘मध्यप्रदेश में बासमती धान की काफी खेती होने लगी है, लेकिन उसे केंद्र सरकार के द्वारा जीआई टैग नहीं देने से उसे जो बासमती धान की अन्य प्रदेशों में कीमत मिलती है, वह नहीं मिल रही है। मैं प्रधानमंत्री जी व केंद्रीय कृषि मंत्री जी, जो कि मध्यप्रदेश के ही हैं, उनसे मप्र के बासमती धान को जीआई टैग देने की मांग करता हूं।’   वहीं, दिग्विजय सिंह ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को एक पत्र लिखा है, जिसमें उन्होंने कहा है कि प्रिय शिवराज सिंह चौहान जी, समाचार पत्रों से जानकारी मिली है कि प्रदेश में बासमती धान का उत्पादन करने वाले किसानों के प्रति आप एकाएक बहुत चिंतित और विचलित हो रहे हैं। आपकी वेदना है कि प्रदेश के किसानों द्वारा पैदा की जा रही बासमती को अभी तक एपीडा संस्था से जीआई टैग नहीं मिल पा रहा है। आप प्रदेश के किसानों के इतने बड़े शुभचिंतक हैं। दिसम्बर 2003 से लेकर विगत सवा साल छोडक़र करीब सोलह साल से आप की प्रदेश में सरकार है। बासमती की टैगिंग को लेकर आपने बयानबाजी के सिवा कुछ नहीं किया। यही नहीं भाजपा के नेतृत्व वाली केन्द्र सरकार को सातवां साल चल रहा है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को आप देश के लिये ईश्वर का वरदान कहते नहीं थकते। क्या कारण है कि आप अपनी ही पार्टी के नेता नरेन्द्र मोदी से मध्यप्रदेश के बासमती उत्पादक किसानों को उनका हक नहीं दिला पाये। जबकि जिस बुधनी क्षेत्र से आप विगत 30 वर्षों से जनप्रतिनिधि हैं। वहां के किसानों को भी आप साल दर साल सिर्फ आश्वासन दे रहे हैं।   उन्होंने आगे लिखा है कि प्रदेश के धान उत्पादक किसान आपके आंसुओं को अब घडिय़ाली आंसू की संज्ञा दे रहे हैं। आप प्रदेश के 14 सालों से मुख्यमंत्री हैं और अपने आप को किसानों का हमदर्द बताने में भी नहीं थकते हैं। अभी तक प्रदेश के किसानों द्वारा उत्पादित बासमती चावल ही नहीं शरबती गेहूं, ज्वार, बाजरा और कोदा-कुटकी को भी जीआई टैग नहीं मिल पाया है।   दिग्विजय सिंह ने पत्र के माध्यम से मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से अनुरोध किया है कि प्रदेश के किसानों के हित में बासमती चावल सहित अन्य कृषि उत्पादकों की उनकी श्रेष्ठता के आधार पर जीआई टैग दिलवाए जाने हेतु आप दिल्ली चलिए और सभी सांसदों के साथ प्रधानमंत्री आवास पर धरना दीजिये। दलीय राजनीति से हटकर मैं भी आपके धरने में शामिल होने के लिये तैयार हूं। आप यदि प्रधानमंत्री के समक्ष किसानों की मांग को लेकर धरना देने तैयार हों तो कृपया तारीख से अवगत कराने का कष्ट करें।’’   बता दें कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान पिछले कई वर्षों से प्रदेश के बासमती चावल को जीआई टैग दिलाने के प्रयास कर रहे हैं, लेकिन गत दिनों पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेन्दर सिंह ने पीएम नरेन्द्र मोदी को पत्र लिखकर मप्र के बासमती चावल को जीआई टैग नहीं देने का आग्रह किया था। इसके बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कैप्टन अमरेन्दर सिंह के पत्र का विरोध करते हुए पुन: प्रधानमंत्री मोदी को एक पत्र लिखा था और मप्र के बासमती धान को जीआई टैग देने की मांग की थी। इसके बाद से यह विवाद लगातार गहराता जा रहा है।

Dakhal News

Dakhal News 18 August 2020


bhopal, Only people state, government job,Madhya Pradesh, Chief Minister Shivraj

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मंगलवार को वीडियो कान्फ्रेंस द्वारा सभी मंत्रियों, मुख्य सचिव, विभागों के अपर मुख्य सचिव, प्रमुख सचिव से स्वतंत्रता दिवस पर की गई जनकल्याण की घोषणाओं के क्रियान्वयन के लेकर चर्चा की और आवश्यक दिशा-निर्देश दिये। इस अवसर पर उन्होंने घोषणा करते हुए कहा कि मध्यप्रदेश में शासकीय सेवाओं में प्रदेश के ही विद्यार्थियों को लिया जाएगा। इसके लिए आवश्यक वैधानिक प्रावधान किए जाएंगे।   मुख्यमंत्री ने कहा कि जनकल्याण के लिए संचालित योजनाओं के क्रियान्वयन की गति बढ़ाई जाए। स्वतंत्रता दिवस 2020 पर की गई व्यापक जनहित की घोषणाओं, आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश के लिए रोडमेप और उसके अमल के साथ ही उन योजनाओं को जमीन पर उतारने के पूरे प्रयास किए जाएं, जिनका क्रियान्वयन गत वर्ष गंभीरता से नहीं किया गया। विभिन्न कार्यों के लिए शिलान्यास और लोकार्पण भी भौतिक रूप से और जहां कोरोना का प्रभाव है वहां तकनीक के माध्यम से संपन्न किए जाएं। सोशल डिस्टेंसिंग और अन्य सावधानियों का पालन करते हुए इनमें विभिन्न मंत्री शामिल होंगे। वे स्वयं भी लोकार्पण कार्यक्रमों में जाएंगे। कोरोना पर नियंत्रण की दृष्टि से स्थितियां सामान्य होते ही ये कार्यक्रम आयोजित होंगे।    मुख्यमंत्री ने निर्देश दिये कि समृद्ध मध्यप्रदेश के लिए अधिक से अधिक प्रयास किए जाएं। प्रयासों की पराकाष्ठा होना चाहिए। विभागों की भूमिका सक्रिय रहे और विभिन्न क्षेत्रों में बेहतर परिणाम प्राप्त किए जाएं। आत्मनिर्भर भारत के रोडमेप के लिए मंत्री समूह आगामी 25 अगस्त तक अपनी रिपोर्ट दे दें। उन्होंने एक सितम्बर से मंत्रियों के हाथ से खाद्यन्न वितरण अभियान के अंतर्गत कार्यक्रम करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि इसके लिए सभी तैयारियां प्रारंभ की जाएं। कलेक्टर्स को भी इसी सप्ताह वीडियो कान्फ्रेंस द्वारा निर्देश दिए जा रहे हैं।   मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना काल में विभिन्न वर्गों के हित में राशि प्रदान की गई। अर्थिक गतिविधियों की शुरुआत के बाद इनकी गति बढ़ाने और गरीबों के कल्याण के पैकेज के क्रियान्वयन का कार्य तेज किया जाए। लोकल को वोकल बनाने के संकल्प के साथ मध्यप्रदेश में विभिन्न संसाधनों के उपयोग से टिकाऊ विकास की लक्ष्य प्राप्ति करना है। उन्होंने स्वतंत्रता दिवस संबोधन की प्रमुख घोषणाओं के संबंध में मंत्रियों और अधिकारियों को विस्तृत निर्देश दिए।    इन विषयों में शहीद सैनिकों के परिवार की सहायता, खाद्यन्न सुरक्षा मिशन में एक सितम्बर से सभी उपभोक्ताओं को लाभान्वित करने, मनरेगा के अंतर्गत दिए गए रोजगार कार्यों को सुनिश्चित करने, प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के 24 जिलों में क्रियान्वयन, स्ट्रीट वेंडर्स को 35 प्रकार के छोटे-छोटे व्यवसायों के सुचारु संचालन में कार्यशील पूंजी दिलवाने, संबल योजना, कृषकों को शून्य प्रतिशत ब्याज पर ऋण दिलवाने, मंडी अधिनियम में संशोधन के प्रावधान जमीन पर उतारने, प्रधानमंत्री कृषि अधोसंरचना निधि में किसानों की आय बढ़ाने, सिंचाई सुविधा के विस्तार, खाद्य प्रसंस्करण ईकायों को प्रारंभ करने, मत्स्य पालन मछुआरों की आय बढ़ाने, दुग्ध उत्पादकों के क्रेडिट कार्ड तैयार करने, महिला स्वसहायता समूहों को सशक्त बनाने, प्रधानमंत्री मातृ वंदन योजना में हितग्राहियों को लाभ दिलवाने, अनुसूचित जनजाति वर्ग को वनाधिकार पट्टे प्रदान किए जाने, प्रदेश के 89 आदिवासी बाहुल्य विकासखंड में बिना लायसेंसधारी साहूकारों द्वारा दिए गए ऋण के चंगुल से आदिवासी भाई-बहनों को मुक्त करवाने, बैगा, सहरिया, भारिया जनजाति के कल्याण, घुमक्कड़ अद्र्ध घुमक्कड़ जातियों के विकास,पिछड़ा वर्ग कल्याण, सामान्य वर्ग के हित में संचालित योजनाओं के क्रियान्वयन, राष्ट्रीय जलजीवन मिशन में 2023 तक एक करोड़ से अधिक नल कनेक्शन, मेधावी छात्रों को लेपटॉप प्रदान किए जाने, प्रदेश में सौर ऊर्जा विकास, अटल (चंबल) प्रोग्रेस- वे और नर्मदा एक्सप्रेस-वे के विकास, रेडीमेड वस्त्र उद्योग के प्रोत्साहन, लघु और सूक्ष्म औद्योगिक इकाईयों की स्थापना, नवीन उद्योगों के लिए 'स्टार्ट योर बिजनेस इन थर्टी डेज' का क्रियान्वयन शामिल हैं।   मुख्यमंत्री ने ग्लोबल स्किल पार्क के विकास के संबंध में भी आवश्यक प्रक्रियाओं को पूरा करने तथा पर्यटन विकास के अंतर्गत थीम आधारित सर्किट विकसित करने के निर्देश दिए। अमरकंटक सर्किट, रामायण सर्किट तीर्थंकर सर्किट, नर्मदा परिक्रमा, डायमंड टूर, साड़ी मेकिंग टूर को बढ़ावा देने और चित्रकूट से अमरकंटक तक, राम वन गमन पथ के विकास, बफर में सफर योजना के संबंध में निर्देश दिए गए। उन्होंने प्रदेश में पर्यावरण हितैषी विचार से आधुनिक पद्धति द्वारा गौण खनिज दोहन और मूल्य संवर्धन रणनीति, कुटीर उद्योगों का जाल बिछाने, 10 संभागीय आईटीआई का उन्नयन, सिंगल सिटीजन डाटाबेस बनाने, आनंद विभाग के अल्पविराम के अन्य कार्यक्रमों के संपादन, ग्रामीण आबादी के लोगों के लिए भू-अभिलेख तैयार करने की व्यवस्था कर आवासीय भूखंड के मालिकाना हक देने के कार्य और प्रदेश सुदृढ़ कानून व्यवस्था बनाए रखने के संबंध में भी विस्तार से निर्देश दिए। मुख्यमंत्री ने कहा कि आदतन अपराधियों, ड्रग्स और चिटफंड में लगे अपराधियों और किसी भी तरह के माफिया के विरुद्ध सख्त कदम उठाए जाएं। उन्होंने कर्मचारी कल्याण, वित्तीय प्रबंधन, बेटी बचाओ अभियान और पुलिस कर्मियों के लिए राजधानी में पृथक अस्पताल की व्यवस्था के संबंध में भी कार्रवाई के निर्देश दिए।

Dakhal News

Dakhal News 18 August 2020


jabalpur, MP, Other Backward Classes , 27% reservation yet, High Court upholds ban

जबलपुर/ भोपाल। मध्यप्रदेश में फिलहाल अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) को 27 फीसदी आरक्षण का लाभ नहीं मिल पाएगा। मप्र उच्च न्यायालय में पूर्ववर्ती सरकार के ओबीसी को 14 आरक्षण के कोटे को 14 फीसदी से बढ़ाकर 27 फीसदी करने के निर्णय को चुनौती देने वाली याचिकाओं पर मंगलवार को सुनवाई हुई, जिसमें अदालत ने 14 फीसदी से अधिक आरक्षण पर लगाई गई रोक को आगामी आदेश तक बरकरार रखने का निर्देश दिया है।    बता दें कि पूर्ववर्ती कांग्रेस की कमलनाथ सरकार द्वारा प्रदेश में अन्य पिछड़ा वर्ग के आरक्षण कोटे को 14 फीसदी से बढ़ाकर 27 फीसदी करने का निर्णय लिया था और इसे राज्य में लागू करने के लिए संशोधित अध्यादेश भी जारी कर दिया गया था, लेकिन सरकार के इस फैसले को जबलपुर की छात्रा आकांक्षा दुबे समेत कई विद्यार्थियों ने उच्च न्यायालय में चुनौती देते हुए याचिकाएं दायर की थीं। याचिकाओं में कहा गया था कि राज्य सरकार के 8 मार्च 2019 को जारी संशोधन अध्यादेश के कारण ओबीसी आरक्षण 14 से बढ़ाकर 27 फीसदी हो गया है, जिससे आरक्षण का कुल प्रतिशत 50 से बढक़र 63 हो गया है। जबकि सुप्रीम कोर्ट के निर्देशों के तहत 50 प्रतिशत से अधिक आरक्षण नहीं किया जा सकता। वहीं राजस्थान के शांतिलाल जोशी सहित 5 छात्रों ने एक अन्य याचिका में कहा कि 28 अगस्त 2018 को मप्र सरकार ने 15000 उच्च माध्यमिक स्कूल शिक्षकों के लिए विज्ञापन प्रकाशित कर भर्ती परीक्षा कराई। 20 जनवरी 2020 को इस सम्बंध में सरकार ने इन पदों में 27 फीसदी ओबीसी आरक्षण लागू करने की नियम निर्देशिका जारी कर दी।   उच्च न्यायालय द्वारा तत्काल याचिकाओं पर तत्काल फैसला लेते हुए अन्य पिछड़ा वर्ग को 14 फीसदी से अधिक आरक्षण देने पर रोक लगा दी थी। इसके साथ ही थी। इसी आदेश को बरकरार रखते हुए कोर्ट ने 28 जनवरी को एमपीपीएससी की करीब 400 भर्तियों में भी ओबीसी आरक्षण बढ़ाने पर अंतरिम रोक लगा दी थी। इस मामले में जबलपुर उच्च न्यायालय में मंगलवार को प्रशासनिक न्यायाधीश संजय यादव व जस्टिस बीके श्रीवास्तव की युगलपीठ द्वारा मंगलवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से सुनवाई हुई, जिसमें सरकार की तरफ से सॉलिसिटर जनरल ऑफ इंडिया तुषार मेहता के साथ महाधिवक्ता पुरुषेन्द्र कौरव ने पक्ष रखते हुए अदालत से रोक के आदेश को वापस लेने का आग्रह किया, जिसे अदालत ने स्वीकार नहीं किया। अदालत ने अन्य पिछड़ा वर्ग के 14 फीसदी से अधिक आरक्षण पर रोक को बरकरार रखने का आदेश पारित किया। साथ ही मामले की अगली सुनवाई चार सप्ताह बाद करने का निर्देश दिया।

Dakhal News

Dakhal News 18 August 2020


indore, grandmother and father, work of public interest ,Scindia

इंदौर। जिस तरह से मेरी दादी और पिता ने सदैव सत्य के मार्ग पर चलते हुए जनता जनार्दन की सेवा की है, उसी प्रकार मैं भी सदैव सत्य के झंडे को ऊंचा रखते हुए जनहित के लिए निरंतर कार्य करता रहूंगा। यह बातें राज्यसभा सांसद और भाजपा के वरिष्ठ नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया ने सोमवार को अपने इंदौर प्रवास के दौरान कही। इस दौरान उन्होंने कांग्रेस पर भी जमकर निशाना साधा।   राज्यसभा सांसद बनने के बाद ज्योतिरादित्य सिंधिया सोमवार को पहली बार इंदौर पहुंचे। यहां भाजपा नेताओं और कार्यकर्ताओं द्वारा उनका जोरदार स्वागत किया गया। इस अवसर पर मंत्री ऊषा ठाकुर, तुलसी सिलावट, सांसद शंकर लालवानी और शहर अध्यक्ष गौरव रणदिवे शामिल रहे। इस दौरान उन्होंने मीडिया से बातचीत में अपने कांग्रेस छोडऩे का खुलासा किया। उन्होंने कहा कि कांग्रेस को काबिलियत की कद्र ही नहीं है। 15 महीनों की कांग्रेस सरकार में जो भ्रष्टाचार और वादाखिलाफी मैंने देखी, ऐसी स्थिति राजनीतिक जीवन में पहले कभी नहीं देखने को मिली। मैंने और मेरे साथी विधायकों ने अंतरात्मा की आवाज सुनकर कांग्रेस पार्टी छोड़ी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भाजपा की सदस्यता ली। उन्होंने कहा कि नरेंद्र मोदी, अमित शाह और जेपी नड्डा के नेतृत्व में भारत का विकास सुनिश्चित है। देश की अखंडता और एकता उनके हाथों में सुरक्षित है।   ज्योतिरादित्य सिंधिाया ने पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ पर निशाना साधते हुए कहा कि मैंने कांग्रेस सरकार के दौरान बार-बार जनता की आवाज को उठाया, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई। आने वाले उपचुनाव में जनता उन्हें सबक खिलाएगी। कांग्रेस कुर्सी जाने की वजह से छटपटा रही है। उन्होंने कहा कि सत्य परेशान हो सकता है, लेकिन पराजित नहीं। हम केवल जनता के विश्वास पर खरा उतरना चाहते हैं। मैं जनसेवक था, हूं और रहूंगा। मेरी दादी ने सत्य का रास्ता अपनाया था, पिताजी ने सत्य का झंडा उठाया, उसी के अनुरूप मैं भी सत्य की राह पर चलते हुए जनहित के कार्य करता रहूंगा। इसके बाद सिंधिया उज्जैन के लिए रवाना हो गए, जहां वे बाबा महाकाल की शाही सवारी में शामिल होंगे और पूजन-अर्चन करेंगे। 

Dakhal News

Dakhal News 17 August 2020


indore, grandmother and father, work of public interest ,Scindia

इंदौर। जिस तरह से मेरी दादी और पिता ने सदैव सत्य के मार्ग पर चलते हुए जनता जनार्दन की सेवा की है, उसी प्रकार मैं भी सदैव सत्य के झंडे को ऊंचा रखते हुए जनहित के लिए निरंतर कार्य करता रहूंगा। यह बातें राज्यसभा सांसद और भाजपा के वरिष्ठ नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया ने सोमवार को अपने इंदौर प्रवास के दौरान कही। इस दौरान उन्होंने कांग्रेस पर भी जमकर निशाना साधा।   राज्यसभा सांसद बनने के बाद ज्योतिरादित्य सिंधिया सोमवार को पहली बार इंदौर पहुंचे। यहां भाजपा नेताओं और कार्यकर्ताओं द्वारा उनका जोरदार स्वागत किया गया। इस अवसर पर मंत्री ऊषा ठाकुर, तुलसी सिलावट, सांसद शंकर लालवानी और शहर अध्यक्ष गौरव रणदिवे शामिल रहे। इस दौरान उन्होंने मीडिया से बातचीत में अपने कांग्रेस छोडऩे का खुलासा किया। उन्होंने कहा कि कांग्रेस को काबिलियत की कद्र ही नहीं है। 15 महीनों की कांग्रेस सरकार में जो भ्रष्टाचार और वादाखिलाफी मैंने देखी, ऐसी स्थिति राजनीतिक जीवन में पहले कभी नहीं देखने को मिली। मैंने और मेरे साथी विधायकों ने अंतरात्मा की आवाज सुनकर कांग्रेस पार्टी छोड़ी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भाजपा की सदस्यता ली। उन्होंने कहा कि नरेंद्र मोदी, अमित शाह और जेपी नड्डा के नेतृत्व में भारत का विकास सुनिश्चित है। देश की अखंडता और एकता उनके हाथों में सुरक्षित है।   ज्योतिरादित्य सिंधिाया ने पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ पर निशाना साधते हुए कहा कि मैंने कांग्रेस सरकार के दौरान बार-बार जनता की आवाज को उठाया, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई। आने वाले उपचुनाव में जनता उन्हें सबक खिलाएगी। कांग्रेस कुर्सी जाने की वजह से छटपटा रही है। उन्होंने कहा कि सत्य परेशान हो सकता है, लेकिन पराजित नहीं। हम केवल जनता के विश्वास पर खरा उतरना चाहते हैं। मैं जनसेवक था, हूं और रहूंगा। मेरी दादी ने सत्य का रास्ता अपनाया था, पिताजी ने सत्य का झंडा उठाया, उसी के अनुरूप मैं भी सत्य की राह पर चलते हुए जनहित के कार्य करता रहूंगा। इसके बाद सिंधिया उज्जैन के लिए रवाना हो गए, जहां वे बाबा महाकाल की शाही सवारी में शामिल होंगे और पूजन-अर्चन करेंगे। 

Dakhal News

Dakhal News 17 August 2020


indore, Scindia ,meet Sumitra Mahajan, Kailash Vijayvargiya

इंदौर। राज्यसभा सासंद और वरिष्ठ भाजपा नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया आज सोमवार को अपने एक दिवसीय मप्र के प्रवास पर आ रहे हैं। वे आज इंदौर और उज्जैन दौरे पर रहेंगे। सिंधिया बाबा महाकाल की पूजा-अर्चना करेंगे। इस दौरान सिंधिया इंदौर में पूर्व स्पीकर सुमित्रा महाजन और भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय से मुलाकात भी करेंगे। मालवा की 7 सीटों पर उपचुनाव के लिहाज से दौरा बेहद अहम माना जा रहा है।   अपने एक दिवसीय प्रवास के दौरान सिंधिया अन्य राजनेताओं से भी मुलाकात करेंगे। निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार, सिंधिया सोमवार दोपहर 1: 05 बजे इंदौर पहुंचेंगे। यहां से वे सीधे महू से भाजपा विधायक और मप्र सरकार की पर्यटन मंत्री ऊषा ठाकुर के घर जाकर उनसे मुलाकात करेंगे। इसके बाद वे सडक़ मार्ग से उज्जैन जाएंगे। उज्जैन में वे भाजपा सांसद अनिल फिरोजिया से उनके घर जाकर मिलेंगे। इसके बाद वे मप्र सरकार के मंत्री मोहन यादव के घर भी जाएंगे। अपने उज्जैन प्रवास के दौरान सिंधिया भाजपा नेता पारस जैन और शिवा कोटवाणी से मिलने उनके घर जाएंगे।    इसी दिन शाम को रामघाट पर महाकाल की शाही सवारी का पूजन कर वे इंदौर लौटेंगे। इंदौर में सिंधिया भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय से नंदा नगर स्थित उनके निवास पर मुलाकात करेंगे। वे इंदौर-2 से विधायक रमेश मेंदोला से भी मिलेंगे इसके अलावा सिंधिया पूर्व लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन के घर जाकर मुलाकात करेंगे। सिंधिया इंदौर के वर्तमान सांसद शंकर लालवानी से उनके घर पर जाकर मिलेंगे। इसके बाद रात इंदौर के मेरियट होटल में रुकने के बाद अगले दिन मंगलवार सुबह वे दिल्ली के लिए रवाना हो जाऐंगे।   ग्वालियर नहीं जाऐंगे महाराज उपचुनावों की दृष्टि से भी सिंधिया का ग्वालियर चंबल दौरा बहुप्रतीक्षित है। राज्यसभा सांसद बनने के बाद सिंधिया का ग्वालियर में बेसर्बी से इंतजार हो रहा है, लेकिन इस बार भी वहां उनके समर्थकों को निराश होना पड़ेगा। पिछले दिनों वे भोपाल दौरे पर आये थे उसके बाद वे एक बार फिर मध्यप्रदेश आ रहे हैं लेकिन ग्वालियर ना आते हुए वे उज्जैन और इंदौर के दौरे पर रहेंगे। सिंधिया ग्वालियर से लगातार दूरी बनाये हुए हैं इसे लेकर अब तरह तरह के कयास लगना शुरू हो गए हैं।

Dakhal News

Dakhal News 17 August 2020


bhopal, Former minister, Jitu Patwari ,targeted BJP, serious allegations

भोपाल। मप्र के पूर्व मंत्री और कांग्रेस मीडिया विभाग के प्रमुख जीतू पटवारी ने सोमवार को प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में एक पत्रकार वार्ता को संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने भाजपा पर जमकर निशाना साधा। साथ ही जीतू पटवारी ने पाला बदलकर भाजपा में शामिल होने पर सिंधिया को लेकर कई आरोप लगाए।   पत्रकार वार्ता को संबोधित करते हुए जीतू पटवारी ने ज्योतिरादित्य सिंधिया पर आरोप लगाते हुए कहा कि सिंधिया ने कहा था सत्ता के लिए नहीं जनसेवा करने की राजनीति करते है। लेकिन अब जनसेवा करने के लिए चम्बल नहीं गए। लेकिन चुनाव को ध्यान रखते हुए उज्जैन और इंदौर दौरा कर रहे है। उन्होंने सिंधिया पर तंज कसते हुए कहा कि अतिथि विद्वान, अथिति शिक्षक मुद्दे पर सिंधिया सडक़ पर उतरने की बात करते थे। पिछले 3 महीने में 28 अतिथि शिक्षकों ने आत्महत्या कर ली है, लेकिन सिंधिया घर में क्यों छुपे हो सडक़ पर आओ। भाजपा में जाने के बाद आज तक सिंधिया ने इस मुद्दे पर सीएम शिवराज को एक पत्र तक नहीं लिखा है। वहीं सिंधिया के आज इंदौर- उज्जैन दौरे पर भी जीतू पटवारी ने सवाल उठाया है। उन्होंने कहा कि पहले सिंधिया के घर कांग्रेसी जाते थे, अब सिंधिया घर घर जा रहे हैं। किसानों के लिए कुछ नहीं कर रही भाजपा इस दौरान किसानों के मुद्दे पर बात करते हुए पूर्व मंत्री जीतू पटवारी ने कहा कि हमारी सरकार ने 25 लाख किसानों का ऋण माफ किया। आज किसानों की संपत्ति कुर्क हो रही है। लेकिन कांग्रेस सरकार के समय किसानों की हितैषी बनने वाली भाजपा सरकार किसानों के लिए कुछ नहीं कर रही है।   सरकारी विभागों पर साधा निशानाइस दौरान जीतू पटवारी ने सरकारी विभागों के कामकाज को लेकर भी जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि ज्यादातर विभाग मे काम नहीं हो रहा है। मंत्री अपने इलाके में चुनाव जीतने के लिए घूम रहे हैं। भाजपा सिर्फ चुनाव जीतने में लगी है।   भाजपा पर लगाया गंभीर आरोपजीतू पटवारी ने भाजपा पर हमला बोलते हुए कहा कि वर्तमान की 5 महीने की भाजपा सरकार को सिर्फ दो कारण से जाना जाता है। जिसमें दलितों और बेटियों पर अत्याचार प्रमुख है। बिजली बिल हॉफ योजना भी सरकार ने रोकी। उन्होंने उप चुनाव में कांग्रेस की वापसी पर भरोसा जताते हुए कहा कि जिस दिन चुनाव होंगे, उस दिन कांग्रेस की वापसी होगी। जनता के बीच भाजपा के खिलाफ आक्रोश है।

Dakhal News

Dakhal News 17 August 2020


bhopal, Commendable contribution, police, making lockdown successful, Minister Dr. Mishra

भोपाल। गृह मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने शनिवार को स्वतंत्रता दिवस पर नवीन पुलिस थाना अरेरा हिल्स के शुभारंभ किया। इस अवसर पर डॉ. मिश्रा ने कहा कि कोरोना संक्रमण काल में लॉकडाउन को सही रूप में सफल बनाने में पुलिस विभाग का सराहनीय योगदान रहा है। उन्होंने कहा कि विपत्ति के समय में पुलिस के अधिकारी-कर्मचारियों ने कर्त्तव्य निर्वहन करते हुए शहादत भी दी है।    मंत्री डॉ. मिश्रा ने कोरोना काल में शहीद होने वाले इंस्पेक्टर देवेन्द्र कुमार चंद्रवंशी की धर्मपत्नी श्रीमती सुषमा चंद्रवंशी और इंस्पेक्टर यशवंत पाल की सुपुत्री कु. फाल्गुनी पाल को उप निरीक्षक के पद पर अनुकम्पा नियुक्ति-पत्र सौंपे। इस अवसर पर पुलिस महानिदेशक विवेक जौहरी, संभागायुक्त कवीन्द्र कियावत, डीआईजी इरशाद वली और अन्य अधिकारीगण मौजूद रहे।   मंत्री डॉ. मिश्रा ने कोरोना संक्रमण काल में पुलिस विभाग के अधिकारी-कर्मचारियों द्वारा कोरोना योद्धा के रूप में किये गये कार्यों की मुक्त कंठ से सराहना की। उन्होंने कहा कि वे मंशा, वाचा, कर्मणा से विभागीय अधिकारी-कर्मचारियों के प्रति साधुवाद और आभार प्रकट करते हैं। उन्होंने कहा कि नवीन पुलिस थाना अरेरा हिल्स के क्षेत्राधिकार में अति महत्वपूर्ण शासकीय संस्थानों के आने से उसकी जिम्मेदारी बढ़ जाती है। आशा करता हूँ कि वे पूर्ण मुस्तैदी और कर्त्तव्यनिष्ठा से अपने कर्त्तव्यों का निर्वहन करते हुए जन-हित में उत्कृष्ट कार्यों का प्रदर्शन करेंगे।   नवीन पुलिस थाने का क्षेत्राधिकार और पुलिस बल की स्थापना शुभारंभ अवसर पर संबोधित करते हुए एडीजी भोपाल जोन उपेन्द्र जैन ने बताया कि नवीन पुलिस थाना क्षेत्र में राजभवन, विधानसभा, विधायक विश्राम गृह, मंत्रालय, वल्लभ भवन, सतपुड़ा- विंध्याचल, पुरानी विधानसभा, रोशनपुरा, मालवीय नगर, भीम नगर, ओम नगर और वल्लभनगर इत्यादि रहेंगे। उन्होंने बताया कि नवीन थाने में एक उपनिरीक्षक, तीन सहायक उपनिरीक्षक, 6 प्रधान आरक्षक तथा 14 आरक्षक के बल को स्वीकृति प्रदान की गई है। थाना प्रभारी के रूप में उप निरीक्षक आर.के. सिंह की पद-स्थापना कर दी गई है।   अनुकम्पा नियुक्ति के लिये परिजनों ने किया आभार व्यक्त श्रीमती सुषमा-देवेन्द्र कुमार चंद्रवंशी और कु. फाल्गुनी-यशवंत पाल ने गृह मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा और मध्यप्रदेश सरकार का आभार व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि कोरोना और परिवार पर आई इस विपत्ति के समय सरकार ने संवेदनशीलता से निर्णय लिया है, इससे समस्त कोरोना योद्धाओं को अपने कार्यों को और बेहतर ढंग से करने के जज्बे को मजबूती मिलेगी। सरकार के इस निर्णय से परिवार का संबंल बढ़ेगा।

Dakhal News

Dakhal News 15 August 2020


bhopal, powerful India ,being built, under leadership, Prime Minister Modi, Shivraj

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शनिवार को भोपाल के लाल परेड ग्राउण्ड परिसर के मोतीलाल नेहरु स्टेडियम में आयोजित राज्यस्तरीय स्वतंत्रता दिवस समारोह को संबोधित करते हुए कहा कि देश के यशस्वी एवं दूरदर्शी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में शक्तिशाली भारत का निर्माण हो रहा है। अब यह वर्ष 1962 का भारत नहीं है। यदि किसी शत्रु ने भारत की ओर आँख उठाकर देखा तो उसे सबक सिखाने में भारत पीछे नहीं रहेगा।    उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश सरकार ने शहीद सैनिकों के परिवार को एक करोड़ रुपये की राशि, परिवार के एक सदस्य को शासकीय सेवा और भूखंड प्रदान करने का निर्णय लेकर बलिदानियों के प्रति सम्मान का भाव प्रदर्शित किया है। प्रधानमंत्री मोदी जी ने चमत्कारी नेतृत्व से असंभव माने जाने वाले कार्यों को संभव कर दिखाया है। कोरोना की चुनौती का उनके सक्षम नेतृत्व में देश ने साहस के साथ सामना किया, देश में सुनियोजित व्यवस्थाएं की गईं और उस पर प्रभावी नियंत्रण किया है।   प्रधानमंत्री के कुशल नेतृत्व में कोरोना से बचाव   मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के कुशल नेतृत्व में सही समय पर लिए गए सुविचारित निर्णयों के परिणामस्वरूप भारत ने कोरोना संक्रमण से बचाव की दिशा में प्रभावी कार्य किया। मोदी जी मैन ऑफ़ आइडियाज हैं। कठिन चुनौती भरे समय को अवसर के रूप में लेते हुए उन्होंने आत्म-निर्भर भारत का जो मंत्र दिया है उस पर प्रदेश तेज गति से चल रहा है। कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने अनेक घोषणाएं भी की।    इनमें प्रमुख हैं-    नि:शुल्क खाद्यान्न प्रदाय का महाअभियान आरंभ होगा।  'मेधावी विद्यार्थी योजना' तथा सभी विद्यार्थियों के लिए नि:शुल्क पढ़ाई की व्यवस्था। मेधावी विद्यार्थियों को वितरित होंगे लैपटॉप। प्रदेश में प्रारंभ होंगे सर्व-सुविधायुक्त और गुणवत्तापूर्ण 'सीएम राइज स्कूल' महिला स्व-सहायता समूहों को इस वर्ष 1300 करोड़ रुपये से अधिक का ऋण 4 प्रतिशत ब्याज दर पर दिया जाएगा। 'एक जिला एक उत्पाद' के सिद्धांत पर होगी जिलों की ब्रांडिंग। बेटियों की पूजा से आरंभ होंगे शासकीय कार्यक्रम। बेटी बचाओ अभियान नए सिरे से प्रारंभ होगा। आदिवासियों एवं गरीबों को साहूकारों के चंगुल से मुक्त कराने का अभियान। नियमों के विपरीत 15 अगस्त 2020 तक दिए गए ऋण शून्य होंगे। आवश्यक कानून लाया जाएगा। पुलिस कर्मियों के लिए भोपाल में बनेगा 50 बिस्तरीय सर्व-सुविधायुक्त अस्पताल। 2023 तक 1 करोड़ नल कनेक्शन का लक्ष्य। हर घर तक नल के माध्यम से जल। सभी नागरिक सुविधाएँ ऑनलाइन उपलब्ध करायी जाएंगी। नर्मदा एक्सप्रेस-वे से नर्मदांचल में उद्योगों, ईको टूरिज्म और धार्मिक गतिविधियों को प्रोत्साहन। नये उद्योगों की स्थापना में सरलता के लिए 'स्टार्ट योर बिजनेस इन थर्टी डेज' योजना प्रारंभ होगी। प्रदेश के नागरिकों का 'सिंगल सिटीजन डाटाबेस' तैयार होगा। ग्रामीण जनता को उनके आवासीय भूखंड पर मालिकाना हक दिया जाएगा। कर्मचारियों को देय सभी लाभ दिए जाएंगे। कोरोना काल की तरह आगे भी गरीबों के लिए सस्ती बिजली।

Dakhal News

Dakhal News 15 August 2020


bhopal, Resolution , grand statue , Bharatmata completed ,Shaurya memorial, CM Shivraj

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर शनिवार को भोपाल के शौर्य स्मारक में भारतमाता की कांस्य प्रतिमा का अनावरण किया। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि भारत माता हमे शक्ति दें कि मध्यप्रदेश वैभवशाली, गौरवशाली और संपन्न देश के निर्माण में अपना सशक्त योगदान दे सके। उन्होंने कहा कि देश पर सर्वस्व न्यौछावर करने वाले वीर सपूत सैनिकों की स्मृति में निर्मित शौर्य स्मारक में भारत माता की दिव्य और भव्य प्रतिमा स्थापित करने का मेरा संकल्प आज साकार हुआ।   मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि शौर्य स्मारक पर वीरों को श्रद्धा सुमन अर्पित करने आये सरसंघ चालक मोहन भागवत सहित अनेक लोगों के मन में अक्सर यह भाव आता था कि यहाँ भारतमाता की मूर्ति होनी चाहिए। यह सपना आज साकार हुआ है। शौर्य स्मारक आने वाला हर व्यक्ति वीर सपूतों को श्रद्धांजलि देकर भारतमाता को प्रणाम कर देश भक्ति के भाव से भर जायेगा।   इस अवसर पर संस्कृति, पर्यटन मंत्री उषा ठाकुर ने भी शौर्य स्मारक पर वीर सपूतों को पुष्पचक्र अर्पित करने के बाद भारतमाता को पुष्पांजलि अर्पित की। इस मौके पर भोपाल सांसद प्रज्ञा ठाकुर, पूर्व महापौर आलोक शर्मा, सीएम की धर्मपत्नी साधना सिंह और प्रमुख सचिव संस्कृति शिवशेखर शुक्ला भी उपस्थित थे। मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर भारतमाता की मूर्ति बनाने वाले मूर्तिकार राजकुमार पण्डित का शाल श्रीफल से सम्मान किया।   अशोक चक्र राष्ट्रगान, राष्ट्रगीत भी उकेरा गया है पेडस्टल पर   उल्लेखनीय है कि भोपाल में 13 एकड़ क्षेत्र में निर्मित शौर्य स्मारक का लोकार्पण प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 14 अक्टूबर 2016 को किया था। स्मारक की प्रथम वर्षगांठ पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने यहां भारतमाता की प्रतिमा स्थापना का संकल्प लिया था। प्रतिमा स्थापना के लिये विशेषज्ञों, वास्तुविदों, शिल्पकारों, चित्रकारों, आकल्पनकारों और संस्थानों आदि से प्रस्ताव आमंत्रित करने के बाद आर्शीवचन की मुद्रा में राष्ट्रध्वज सहित कमल पर भारतमाता की लगभग 25 फीट (पेडस्टल सहित 37 फीट) कांस्य प्रतिमा स्थापित की गई है। प्रतिमा के पेडस्टल पर अशोक चक्र के साथ राष्ट्रगान और राष्ट्रगीत भी उकेरा गया है। वहीं स्मारक में भारतीय सेना, वायुसेना और नौसेना से संबंधित संक्षिप्त ऐतिहासिक जानकारी, चित्र, अस्त्र-सशस्त्रों के छायाचित्र, टेबलटॉप मॉडल स्केल मॉडल शौर्यपदक विवरण, शौर्य से संबंधित प्रकाशन, लघु फिल्म प्रदर्शन आदि के माध्यम से जनसामान्य को भारतीय सेना की शौर्यगाथाओं से परिचित कराया जाता है। अब तक 26 लाख 50 हजार से अधिक लोग यहाँ आ चुके हैं।   शौर्य स्तम्भ पर शहीदों को नमन   मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भारतमाता की मूर्ति के अनावरण के पूर्व शौर्य स्तम्भ पर पुष्पचक्र अर्पित कर शहीदों को नमन किया। इस मौके पर संस्कृति मंत्री उषा ठाकुर सहित जनप्रतिनिधि एवं अधिकारी उपस्थित थे।

Dakhal News

Dakhal News 15 August 2020


bhopal, All departments, should play, active role ,self-reliant MP, Chief Minister

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मंत्रीगण से अपने विभागों की नियमित समीक्षा कर जनकल्याण के प्रयासों को गति देने की अपेक्षा की है। मुख्यमंत्री चौहान ने मंत्रालय से वर्चुअल कैबिनेट शुरू होने के पहले मंत्रियों से संवाद किया। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश का रोडमेप बनाने के लिए हाल ही में संपन्न वेबिनार में महत्वपूर्ण सुझाव आए हैं, इनको जमीन पर उतारा जाएगा।   मुख्यमंत्री चौहन ने कहा कि आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश वेबिनार में विद्वानों और विषय-विशेषज्ञों के साथ ही आमजनता के सुझाव भी प्राप्त हुए हैं। इन्हें भी रोडमेप में स्थान दिया जाए। यह देखना होगा  कि व्यवहारिक सुझाव  अवश्य शामिल हो जायें। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी के आत्मनिर्भर भारत के आव्हान पर आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश का रोडमेप बनाने के लिए वेबिनार के बाद मंत्रीगण समन्वय अधिकारी के साथ 16 अगस्त से बैठकें कर विभिन्न क्षेत्रों में विकास का प्रारूप तैयार करें। मंत्रियों के समूह आगामी 25 अगस्त तक अपनी सिफारिशें दे दें। मुख्मंत्री चौहान ने कहा कि इन सिफारिशों के मिलने के बाद नीति आयोग से चर्चा होगी। इसके पश्चात प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को मध्यप्रदेश के विकास का 3 वर्ष का रोडमेप सौंपा जाएगा। मध्यप्रदेश के विकास के रोडमेप में वार्षिक के साथ ही अर्द्धवार्षिक और त्रैमासिक लक्ष्य भी होंगे।    योजनाओं के प्रचार पर दें ध्यान  मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि प्रत्येक विभाग की गतिविधियां जनता तक पहुंचें। वर्चुअल कार्यक्रम, बैठकें आयोजित हों। इसके साथ ही शिलान्यास और लोकार्पण भी किए जाएं एवं हितग्राहियों के बैंक खाते में योजनाओं की राशि जमा करने का कार्य किया जाए। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि कोरोना काल में राजस्व संग्रहण में कमी आई है लेकिन इसके लिए वित्तीय व्यवस्था और प्रबंधन करते हुए आमजन के कल्याण पर प्राथमिकता से  ध्यान दिया जाए।   माफिया और मिलावटियों के विरुद्ध चले अभियान  मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि  प्रदेश में माफिया और मिलावट करने वाले समाज विरोधी लोगों के विरुद्ध तीव्र अभियान चलाया जाए। दूध और अन्य उत्पादों में मिलावट का कृत्य अक्षम्य है।   महत्वपूर्ण योजनाओं के अमल पर करें फोकस  मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि श्रमसिद्धि अभियान, संबल योजना, प्रधानमंत्री स्वनिधि योजना, गरीब कल्याण रोजगार अभियान, लोक सेवा अधिनियम, वनाधिकार पट्टों का प्रदाय, श्रम सुधार, नये मंडी अधिनियम के क्रियान्वयन, जल जीवन मिशन, ग्रामीण पथ विक्रेता कल्याण योजना, हमारा घर हमारा विद्यालय और 15 अगस्त से प्रारंभ होने वाले सहयोग से सुरक्षा अभियान के क्रियान्वयन पर फोकस किया जाए। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि वे स्वयं रोजगार सेतु, आवास निर्माण और अन्य योजनाओं के ऑनलाइन कार्यक्रमों में हिस्सा लेंगे और हितग्राहियों को लाभान्वित करेंगे। मुख्यमंत्री चौहान ने मजबूत इच्छा शक्ति और संकल्प के साथ आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश के लिए अधिक से अधिक सक्रियता की अपेक्षा मंत्रियों और अधिकारियों से की है।

Dakhal News

Dakhal News 14 August 2020


bhopal, Narottam tightened, face , Kamal Nath, addressed his workers

भोपाल। अब पूर्व सीएम कमलनाथ स्वतंत्रता दिवस से एक दिन पहले शुक्रवार को मध्यप्रदेश की जनता को संबोधित करेंगे। कांग्रेस ने अपने आफिशियल ट्वीटर अकाउंट से इसकी जानकारी दी है। इसका सीधा प्रसारण शाम 4 बजे कांग्रेस के सभी सोशल मीडिया प्लेटफ़ॉर्म पर किया जाएगा। स्वतत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर कमलनाथ के संबोधन पर प्रदेश के गृह एवं जेल मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने तंज कसा है।   मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने शुक्रवार को मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि अच्छा होता कि कमलनाथ ये संबोधन अपने कार्यकत्ताओं को करते, पार्टी को करते, झूठ पर राजनीति करना कांग्रेस का काम है। उन्होंने चुटकी लेते हुए कहा कि कांग्रेस ने तो यह भी कहा था कि 15 अगस्त को मुख्यमंत्री के रूप में कमलनाथ जी तिरंगा फहराएंगे। आप ऐसी बातें करते ही क्यों हैं जिन्हें पूरा नहीं कर पाते। दरअसल आप ऐसा बोल-बोल कर पार्टी को थामे रखना चाहते हैं। वहीं दिग्विजय सिंह के संघ पर सवाल खड़े करने पर उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी में अब कार्यकर्ता नहीं बचे हैं, सिर्फ नेता ही बचे है, तो और क्या करेंगे।   इसके अलावा भारतीय इतिहास में पीएम मोदी को चौथे सबसे लंबे समय तक सेवा देने वाले प्रधानमंत्री बनने पर गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि कोई तो चलता पदचिन्हों पर...कोई पद चिन्ह बनाता है। यह हम-सबके लिए गौरव की बात है कि माननीय प्रधानमंत्री मोदी के रूप में देश का नेतृत्व एक ऐसे सक्षम नेता के हाथों में है जिनके ऐतिहासिक और साहसिक फैसलों से दुनिया में भारत की एक नई पहचान बनी है। उन्होंने कहा कि इतिहास जब लिखा जाएगा, तब मोदी जी के फैसलों को लेकर लिखा जाएगा। 

Dakhal News

Dakhal News 14 August 2020


bhopal, country will be ,empowered , citizens, new tax system, Shivraj

भोपाल। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा गुरुवार को देश में एक नए टैक्स प्रोग्राम की लॉन्चिंग की, जिसे 'पारदर्शी टैक्स व्यवस्था- ईमानदारों को सम्मान' नाम दिया गया है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान सोशल मीडिया के माध्यम से इस पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा है कि इस नयी टैक्स व्यवस्था से नागरिकों से साथ देश भी सशक्त होगा।    मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट करते हुए कहा है कि -‘भारत के यशस्वी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी ने 'पारदर्शी टैक्स व्यवस्था- ईमानदारों को सम्मान' की नई व्यवस्था के माध्यम से देशवासियों को सशक्त किया है। इस नई व्यवस्था से नागरिकों के साथ देश भी सशक्त होगा। ऐसे अभिनव प्रयासों से आत्मनिर्भर भारत का  स्वप्न शीघ्र साकार होगा।’   उन्होंने दूसरे ट्वीट में कहा है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी के नेतृत्व में 'पारदर्शी टैक्स व्यवस्था- ईमानदारों को सम्मान' में जनसाधारण के साथ उच्च आय वर्ग को भी सुखद अनुभूति होगी। अब ‘विवाद से विश्वास’ जैसी योजना से ज्यादातर मामले सहज ही सुलझ जायेंगे।’ उन्होंने कहा है कि इस नये टैक्स सिस्टम के शुभारंभ के लिए मैं प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी का अभिनंदन करता हूं। आम आदमी को जहां 5 लाख रुपये पर कोई टैक्स नहीं देना है, तो वहीं बाकी स्लैब में पहले की तुलना में काफी राहत हुई है। देश इस नई व्यवस्था का स्वागत करता है!’

Dakhal News

Dakhal News 13 August 2020


bhopal, Ministers, may get charge, districts, August 15, Scindia supporters,big districts

भोपाल। मध्यप्रदेश में मंत्रिमंडल विस्तार और विभागों के बंटवारे के बाद जिलों का प्रभार मिलना बाकि है। 15 अगस्त के बाद मंत्रियों को उनके जिलों का प्रभार मिल सकता है। लंबे समय से मंत्रियों को जिलों का प्रभार मिलने इंतजार है। मंत्रिमंडल में शामिल होने से लेकर विभाग बंटवारे की तरह ही मंत्रियों में जिलों को लेकर भी रस्साकसी जारी है। सिंधिया समर्थक मंत्रियों की नजर अपनी पसंद के बड़े जिलों पर है।   मप्र में मंत्रिमंडल में शामिल मंत्रियों को विभाग वितरण के एक महीने के बाद भी जिलों का प्रभार नहीं मिल पाया है। पिछले महीने की 13 तारीख को मंत्रियों को विभागों के बंटवारे के बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने जल्द ही उन्हें जिलों का प्रभार दिए जाने की बात कही थी। उनका कहना था कि कुछ मंत्रियों को एक और कुछ को दो-दो जिलों का प्रभार दिया जाएगा। इसके बाद मुख्यमंत्री ने मंत्रियों से वन टू वन चर्चा के दौरान उनके प्रभार के पसंदीदा जिलों के बारे में चर्चा की थी। अब बताया जा रहा है कि 15 अगस्त के बाद मंत्रियों को जिलों का प्रभार दिया जा सकता है।    सीएम शिवराज के कोरोना संक्रमित होने की वजह से प्रभार का मामला अटक गया था, लेकिन अब मुख्यमंत्री पूरी तरह से स्वस्थ है और मंत्रियों को जल्दउ ही जिलों का प्रभार दिया जा सकता है। सूत्रों की माने तो विभागों की तरह सिंधिया समर्थक मंत्री जिलों के प्रभार में भी अपनी पसंद चाहते हैं। वह चाहते हैं कि उन्हें बड़े जिलों का प्रभार दिया जाए। उन्होंने राज्यसभा सांसद ज्योतिराज सिंधिया से उन्हें उनकी पसंद के जिले का प्रभार दिलाए जाने की गुहार लगाई है। जिन जिलों पर सिंधिया समर्थकों की नजर है शिवराज की कुछ करीबी मंत्री भी उन्हें जिलों का प्रभार चाहते हैं। यही वजह है कि मंत्रियों को जिलों का प्रभार देने में देरी आ रही है।

Dakhal News

Dakhal News 13 August 2020


bhopal, Manmi Janmashtami ,sang hymn, wife in CM house, Shivraj sung, wife

भोपाल। श्रीकृष्ण जन्माष्टमी के उपलक्ष्य में मुख्यमंत्री निवास पर धूमधाम से जन्माष्टमी पर्व मनाया गया। इस मौके पर सीएम हाउस में मटकी फोडऩे को परंपरा को कायम रखते हुए सीएम शिवराज ने परिवार के साथ मटकी फोड़ी। कोरोना संकट को देखते हुए इस बार सीएम हाउस में भीड़ एकत्रित नहीं हुई थी। इस दौरान सीएम शिवराज ने पत्नी संग भजन भी गए।   जन्माष्टमी के लिए सीएम शिवराज सिंह चौहान और उनकी पत्नी साधना सिंह चौहान ने कृष्ण जन्मोत्सव की तैयारियां की। इस अवसर पर मुख्यमंत्री की पत्नी साधना सिंह चौहान ने कृष्ण की लीलाओं से घर के मंदिर की साज सज्जा की। मुख्यमंत्री निवास में श्री कृष्ण के जन्म से लेकर गोवर्धन पर्वत को उठाने तक की झाँकियाँ तैयार की गई। कृष्ण जन्म, श्री कृष्ण का गोप-गोपियों के साथ खेल, माखन चोरी, बांसुरी वादन,  राधा कृष्ण प्रेम और गोवर्धन पर्वत की झांकी तैयार की गई। इसके बाद रात 12 बजे सीएम शिवराज ने परिवार के साथ कृष्ण जन्माष्टमी त्यौहार मनाया। सीएम शिवराज ने भगवान कृष्ण को भोग लगाकर आरती उतारी। इस अवसर पर पत्नी साधना सिंह के साथ सीएम शिवराज ने भजन भी गाया। पत्रकारों से बातचीत में सीएम शिवराज ने समस्त प्रदेशवासियों को बधाई देते हुए कहा कि जब-जब धर्म की हानि होती है, अधर्म बढ़ता है। असुर-पापी बढ़ते हैं तो उनका विनाश करने और सज्जनों का उद्धार करने भगवान बार-बार इस धरती पर आते हैं। ये गीता जी में कहा है। मैं कन्हैया से यही प्रार्थना है कि सुख समृद्धि देश और जनता की जिंदगी में आए। सब सुखी हों, सबका कल्याण हो। कोरोना अब हमारे देश और दुनिया से भाग जाए, समाप्त हो। कोरोना की लड़ाई में हमारी विजय हो। इस दौरान सीएम शिवराज ने बताया कि कोरोना संकट को देखते हुए इस बार केवल हम लोग परिजन, बहुत थोड़ी संख्या में त्यौहार मनाऐंगे, वैसे पूरे प्रदेशवासी ही मेरे परिजन हैं।

Dakhal News

Dakhal News 13 August 2020


satna, DGGE raids, Maihar Cement , GST theft case, one officer arrested

सतना। मध्यप्रदेश के सतना जिले में स्थित मैहर सीमेंट कंपनी में डायरेक्टर जनरल ऑफ जीएसटी इंटेलिजेंस (डीजीजीई) द्वारा छापामार कार्रवाई की गई है। बताया जा रहा है कि कंपनी द्वारा कोरोड़ों रुपये की जीएसटी चोरी का मामला उजागर हुआ है। कंपनी  के एक अधिकारी को गिरफ्तार कर बुधवार को अदालत में पेश किया गया, जहां से उन्हें न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया गया है।   जानकारी के मुताबिक, मैहर सीमेंट द्वारा जीएसटी चोरी का यह खेल काफी समय से किया जा रहा था, जिस पर जीएसटी विभाग द्वारा लगातार नजर रखी जा रही थी। कंपनी के खिलाफ काफी पुख्ता सबूत मिलने के बाद डीजीजीई की टीम मैहर सीमेंट कंपनी पहुंची और यहां छापमार कार्रवाई की। बताया गया है कि कार्रवाई के दौरान करोड़ों रुपये की जीएसटी चोरी का मामला सामने आया है। कार्रवाई में अब तक 52 लाख रुपये से ज्यादा नकद बरामद किए गए हैं। बताया गया है कि डीजीजीई द्वारा कंपनी के मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश के 28 ठिकानों पर छापामार कार्रवाई की गई और अहम दस्तावेज जब्त किये गये हैं।   जानकारी मिली है कि जीएसटी चोरी के मामले में विशेष जांच टीम द्वारा कंपनी के सीनियर प्रेसिडेंट केएस सिंघवी को गिरफ्तार कर बुधवार को अदालत में पेश किया गया, जहां से उन्हें आगामी 25 अगस्त तक न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया गया।

Dakhal News

Dakhal News 12 August 2020


bhopal, Youth ,move forward, country and world forward,CM Shivraj

भोपाल। युवा शक्ति किसी भी समाज और नीतियों की दिशा बदल सकती है। इसी को ध्यान में रखते हुए कुछ बुद्धिजीवियों ने साल 2000 में अंतराष्ट्रीय युवा दिवस की शुरुआत की थी। तभी से प्रतिवर्ष 12 अगस्त को यह दिवस मनाया जा रहा है। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने अंतरराष्ट्रीय युवा दिवस पर शुभकामनाएँ दी हैं और युवाओं से आह्वान किया है कि वे आगे बढ़ें और देश-दुनिया को आगे बढ़ाएं।   मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बुधवार को ट्वीट के माध्यम से कहा है कि -‘भारत सैकड़ों वर्षों पहले से विश्व को शांति, कल्याण का मार्ग दिखाता आया है। आज का युवा सामाजिक, आर्थिक व जीवन के हर क्षेत्र में उपयोगी भागीदारी के साथ विश्व को नई राह पर ले जाने के लिए प्रतिबद्ध है। युवा आगे बढ़ें, देश व दुनिया को आगे बढ़ाएं। शुभकामनाएं!’

Dakhal News

Dakhal News 12 August 2020


indore,Now relief , left in memories, Indauri, late night, delivery-e-khak

इंदौर। भारतीय फिल्म जगत को कई सुपरहिल्ट गीत देने वाले मशहूर शायर राहत इंदौरी अब बस लोगों की यादों में ही रह गए। उन्हें मंगलवार देर रात सुपुर्दे ए खाक किया गया। पर्सनल प्रोटेक्शन किट (पीपीई) पहनकर उनके परिजनों ने उनका अंतिम संस्कार किया।    70 वर्षीय मशहूर शायर राहत इंदौरी रविवार रात खांसी, बुखार और घबराहट होने पर जांच के लिए सीएचएल अस्पताल गए थे। सीटी स्कैन में निमोनिया आया तो डॉक्टरों ने भर्ती होने की सलाह दी। सोमवार देर रात उनकी रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई और वे मंगलवार को सुबह अरविंदो अस्पताल में भर्ती हुए थे, जहां शाम 5 बजे उन्होंने अंतिम सांस ली। अरबिंदो मेडिकल कॉलेज के चेयरमैन डॉ. विनोद भंडारी ने बताया कि जब वे यहां आए तब शुगर बढ़ी हुई थी। मंगलवार सुबह तक सेहत में सुधार लग रहा था, लेकिन दोपहर डेढ़ बजे उन्हें हार्ट अटैक आया। सीपीआर देने पर कुछ सुधार हुआ। दो घंटे बाद दूसरा अटैक आ गया और उन्हें बचाया नहीं जा सका।    निधन के पश्चात उनके शव को मंगलवार देर रात एम्बुलेंस के माध्यम से यहां छोटी खजरानी स्थित कब्रिस्तान में लाया गया, जहां पर्सनल प्रोटेक्शन किट (पीपीई) पहने उनके लगभग 15 परिवार जनों ने नमाज ए जनाजा अता कर उनका अंतिम संस्कार किया। राहत इंदौरी के बेटे और शायर सतलज राहत ने बताया कि पिता राहत इंदौरी लॉकडाउन के बाद से ही पूरे समय घर पर थे। इस बीच वे केवल अपने स्वास्थ्य की जांच कराने अस्पताल जाते-आते रहें। उनका अचानक यू दुनिया से रुक्सत हो जाने से पूरा परिवार स्तब्ध हैं।

Dakhal News

Dakhal News 12 August 2020


bhopal, CM Shivraj, expressed grief ,over the death, famous poet, Rahat Indore

भोपाल। मशहूर शायर डॉ. राहत इंदौरी कोरोना का कोरोना संक्रमण के चलते निधन हो गया। उनकी कोरोना जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद उन्हें मंगलवार को सुबह अरविंदो अस्पताल में भर्ती किया गया था, जहां शाम को दिल का दौरा पडऩे से उनका निधन हो गया। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने उनके निधन पर दुख व्यक्त किया है।   मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट करते हुए कहा है कि - ‘अपनी शायरी से लाखों-करोड़ों दिलों पर राज करने वाले मशहूर शायर, हरदिल अजीज राहत इंदौरी का निधन मध्यप्रदेश और देश के लिए अपूरणीय क्षति है। मैं ईश्वर से प्रार्थना करता हूँ कि उनकी आत्मा को शांति दें और उनके परिजनों और चाहने वालों को इस अपार दु:ख को सहने की शक्ति दें।   मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने राहत इंदौरी का एक शेर भी पोस्ट किया है -‘ ...राह के पत्थर से बढ़ कर कुछ नहीं हैं मंजिलें.., रास्ते आवाज़ देते हैं सफऱ जारी रखो.., एक ही नदी के हैं ये दो किनारे दोस्तों.., दोस्ताना ज़िंदगी से मौत से यारी रखो..।’ उन्होंने आगे लिखा है कि- राहत जी आप यूँ हमें छोड़ कर जाएंगे, सोचा न था। आप जिस दुनिया में भी हों, महफूज रहें, सफर जारी रहे।’

Dakhal News

Dakhal News 11 August 2020


bhopal, Narottam tightened up, state Congress,opposition today,had agreed

भोपाल। चाचौड़ा से कांग्रेस विधायक और पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह के छोटे भाई लक्ष्मण सिंह इन दिनों अपनी ही पार्टी को लेकर खूब बयान दे रहे हैं। अब तो उन्होंने प्रदेश नेतृत्व तक को बदल देने की नसीहत दे डाली है। लक्ष्मण सिंह के बयान के बहाने प्रदेश के गृह एवं जेल मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने पूर्व सीएम कमलनाथ पर तंज कसा है। उन्होंने कहा है कि लक्ष्मण सिंह वरिष्ठ नेता हैं, प्रदेश कांग्रेस अगर उनकी बातें मान लेती तो आज विपक्ष में नहीं होती।   मंगलवार को मीडिया से बातचीत करते हुए गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कमलनाथ पर निशाना साधते हुए कहा कि लक्ष्मण सिंह वरिष्ठ विधायक है। बरसों विधायक और सांसद रहे हैं, उनका अपना लंबा राजनीतिक अनुभव है और वे सदैव इस तरह की बातें कांग्रेस को कहते आए हैं। लेकिन पता नहीं कमलनाथ जी को क्यों अपने वरिष्ठ विधायक लक्ष्मण सिंह की बात समझ में नहीं आती, यदि समझ लेते तो शायद विपक्ष में न होते। मंत्री मिश्रा ने कहा कि उन्होंने बातें तो सही कही थी, अभी भी वो सही कह रहे है कि अगर नेतृत्व बदल दे तो कोई संभावना हो वरना अभी तो दूर दूर तक कुछ दिख नहीं रहा है।   पूर्व मंत्री गोविंद सिंह द्वारा अवैध रेत खनन को लेकर सीएम को लिखे पत्र और आंदोलन की चेतावनी पर मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि रेत और शराब पर कांग्रेस की नजऱ है, गोविंन्द सिंह की चिंता पुरानी है।  कांग्रेस के नेता रेत और शराब को लेकर जिस तरह बयान दे रहे हैं। उससे समझा जा सकता है कि उनकी निगाहें कहां पर हैं। कांग्रेस प्रमाण दे हम कार्रवाई करेंगे, वैसे ज्यादातर ठेके उन्हीं के समय दिए गए थे।   राजस्थान सियासत कांग्रेस का आंतरिक मामलाराजस्थान कांग्रेस सरकार संकट पर गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि कांग्रेस के लोगों ने बगावत की, इसमें भाजपा का रोल नहीं, कांग्रेस का आंतरिक मामला है, कांग्रेस अपने घर को संभाले। विवेक तन्खा के बयान पर उन्होंने कहा कि विवेक तन्खा जी आप भाजपा की नहीं अपनी पार्टी की चिंता कीजिए। दरअसल राजस्थान में जो समझौता हुआ है वह माननीय सोनिया गांधी जी ने राहुल गांधी के लिए प्रियंका गांधी के जरिए कराया है। पता नहीं कांग्रेस नेता अपने आंतरिक मामलों में भाजपा को क्यों ले आती है...?   समाज को कोरोना के खिलाफ खड़ा होना होगाप्रदेश में कोरोना संक्रमण के मामलों पर मंत्री मिश्रा ने कहा कि समाज को कोरोना के खिलाफ खड़ा होना होगा, कोरोना को छुपाना सही नहीं है। कोरोना पीडि़तों को अछूत न माना जाए, प्रारम्भिक जांच की कर ली जाए तो कोरोना इतना गंभीर नहीं है। वहीं उन्होंने कहा कि डॉक्टरों की पूरी चिंता सरकार को है, कोरोना फेफड़ों तक पहुंचता है तो गंभीर हो जाता है।

Dakhal News

Dakhal News 11 August 2020


bhopal, Famous poet relief Indouri, corona infected, CM Shivraj, wished to get well soon

भोपाल। मध्य प्रदेश में कोरोना कहर जारी है। यहां लगातार कोरोना संक्रमण के मामले तेजी से सामने आ रहे हैं। अब मशहूर शायर राहत इंदौरी कोरोना पॉजिटिव हो गए हैं। स्वास्थ्य ठीक नहीं लगने पर उन्होंने जांच करावाई थी, जिसमें उनकी रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई है। राहत इंदौरी ने खुद मंगलवार सुबह खुद ट्वीट कर इसकी जानकारी दी है। उन्हें ईलाज के लिए अरबिंदो अस्पताल में भर्ती कराया गया हैं।   राहत इंदौरी ने मंगलवार सुबह ट्वीट कर कहा, 'कोविड के शरुआती लक्षण दिखाई देने पर कल मेरा कोरोना टेस्ट किया गया, जिसकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। ऑरबिंदो हॉस्पिटल में एडमिट हूं। दुआ कीजिये जल्द से जल्द इस बीमारी को हरा दूं।' इसके साथ ही उन्होंने लोगों से अपील करते हुए कहा है कि एक और इल्तेजा है, मुझे या घर के लोगों को फोन ना करें, मेरी खैरियत ट्वीटर और फेसबुक पर आपको मिलती रहेगी।   सीएम शिवराज ने की शीघ्र स्वस्थ होने की कामनाशायर राहत इंदौरी के कोरोना संक्रमित होने की जानकारी मिलने के बाद उनके स्वस्थ होने की कामना और प्रार्थना का दौर शुरु हो गया है। मप्र के सीएम शिवराज सिंह चौहान ने भी राहत इंदौरी के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना की है। मंगलवार सुबह उन्होंने ट्वीट कर कहा ‘ प्रसिद्ध शायर श्री राहत इंदौरी जी के अस्वस्थ होने का समाचार मिला। ईश्वर से उनके शीघ्र स्वस्थ होने की प्रार्थना करता हूं।

Dakhal News

Dakhal News 11 August 2020


bhopal, Congress supported , strike Trospotters, give relief ,demands

भोपाल। ऑल इंडिया मोटर ट्रांसपोर्ट कांग्रेस के आह्वान पर बस एवं ट्रक आपरेटर अपनी विभिन्न मांगों को लेकर सोमवार से तीन दिवसीय हड़ताल पर चले गए हैं। मध्यप्रदेश में भी इस हड़ताल के चलते करीब सात लाख से अधिक ट्रकों-बसों के पहिए पूरी तरह थम गए हैं। इधर, मध्यप्रदेश कांग्रेस ने ट्रांसपोर्टर्स की इस हड़ताल का समर्थन किया और सरकार से मांग की है कि उनकी मांगें मानकर उन्हें राहत प्रदान की जाए।   मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने सोमवार को सिलसिलेवार ट्वीट के माध्यम से ट्रांसपोर्टर्स की इस हड़ताल का समर्थन करते हुए कहा है कि - ‘प्रदेश में ट्रक ऑपरेटर्स और बस ऑपरेटर्स कोरोना के इस संकट काल को देखते हुए डीजल पर लगने वाले करो में कमी व रोड टैक्स सहित अन्य करों में राहत की मांग निरंतर कर रहे हैं। मैंने भी कई बार इनकी मांगों को दोहराया है और मुख्यमंत्री को इस संबंध में राहत प्रदान करने संबंधी पत्र भी लिखे हैं।’   उन्होंने अगले ट्वीट में लिखा है कि - ‘पूरे प्रदेश में बस ऑपरेटर्स ने विरोधस्वरुप अपनी बसों का संचालन बंद कर रखा है और अब आज से ट्रक एसोसिएशन ने भी प्रदेश में तीन दिवसीय हड़ताल का आव्हान किया है। इससे व्यापार - व्यवसाय प्रभावित होगा व बसों के बंद रहने से आम जनजीवन पहले से ही प्रभावित है।’   कमलनाथ ने अगले ट्वीट में कहा है कि - ‘कांग्रेस उनकी मांगों का समर्थन करती है और हम सरकार से मांग करते हैं कि जनहित में उनकी मांगों को तत्काल मान कर उन्हें राहत प्रदान की जाए।’

Dakhal News

Dakhal News 10 August 2020


bhopal, Narottam answer,Kamal Nath, single false FIR

भोपाल। पूर्व मंत्री जीतू पटवारी के खिलाफ एफआईआर दर्ज होने के बाद मप्र की सियासत में घमासान मचा हुआ है। कांग्रेस नेताओं की तरफ से बयानबाजी तेज हो गई है। पूर्व सीएम और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने तो भाजपा पर कांग्रेस नेताओं के खिलाफ राजनीतिक द्वेषपूर्वक झूठे मुकदमें दर्ज करने और सडक़ पर उतरने की चेतावनी तक दे डाली। कमलनाथ के बयान पर प्रदेश के गृह एवं जेल मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने पलटवार किया है। उन्होंने कहा है कि मप्र में यदि एक भी झूठी एफआईआर हुई हो तो बताएं। यदि कोई गलत करेगा तो भुगतेगा। कानून अपना काम करेगा।   गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने सोमवार को मीडिया से बातचीत करते हुए कमलनाथ के दोहरी मानसिकता की राजनीति करने के आरोप पर कहा कि कमलनाथ सडक़ पर उतरने की बात कर रहे हैं, कभी जनता के दिल मे उतरने की बात करो। छिंदवाड़ा के बाहर भी संसार है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस जनता से झूठे वादे कर सत्ता पर काबिज हुई। वो सरकार पर आरोप लगाने से पहले ये तो बताए कि आखिर उसने चुनाव में जो भी वादे किए थे उन पर अमल किया क्या..? कमलनाथ पर तंज कसते हुए मंत्री मिश्रा ने कहा कि अपनी पूरी पार्टी ही सडक़ पर ला दिया है। जिस विषय को लेकर वो सडक़ पर आने की बात कर रहे है, जिस पूर्व मंत्री पर प्रकरण दर्ज हुआ है क्या वो जूठा है ये बताए। मप्र में यदि एक भी झूठी एफआईआर हुई हो तो बताएं। यदि कोई गलत करेगा तो भुगतेगा। कानून अपना काम करेगा। कांग्रेस जिम्मेदार विपक्ष की भूमिका निभाए। उन्होंने कहा कि एक भी कांग्रेस के कार्यकर्ता है जिसपर झूठे प्रकरण दर्ज हो। मुझसे पूछो कैसे लगाएं जाते हैं झूठे प्रकरण, मैं चश्मदीद हूं, पन्द्रह महीने पर आपने कैसे झूठे प्रकरण लगाए गए थे।   प्रदेशवासियों से की घर पर त्यौहार मनाने की अपीलआने वाले दिनों में प्रमुख त्योहार आ रहे हैं। प्रदेशवासियों से हाथ जोडक़र विनती है कि वे कोरोना वायरस संक्रमण के खतरे के मद्देनजर सभी त्योहार अपने घरों में परिवार के साथ ही मनाएं। इस दौरान सार्वजनिक प्रतिमाओं की स्थापना और किसी प्रकार का जुलूस निकालने की इजाजत नहीं होगी।

Dakhal News

Dakhal News 10 August 2020


bhopal, Corona infected, another minister, Shivraj cabinet, Vishwas Sarang

भोपाल। मध्य प्रदेश में कोरोना संक्रमण के मामले कम होने का नाम नहीं ले रहे हैं। यहां कोरोना के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। आम आदमी से लेकर राजनेता तक इसकी चपेट में आने से खुद को बचा नहीं पा रहे हैं। वही अब मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान कैबिनेट के एक और मंत्री कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। उन्होंने रविवार देर रात खुद ट्वीट कर इस बात की जानकारी दी है। कोरोना संक्रमित होने के बाद उन्हें खुद को घर में एकांतवास कर लिया है।   मंत्री विश्वास सारंग ने ट्वीट कर अपने कोरोना पाजिटिव होने की जानकारी दी। उन्होंने अपने ट्वीट में कहा कि‘ ''आज मेरी दूसरी कोरोना टेस्ट रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। प्रथम टेस्ट रिपोर्ट निगेटिव होने के बाद से ही मैं घरेलू एकांतवास में हूं। आप सबसे अनुरोध है कि जो भी मेरे संपर्क में आए हैं, आप सभी कोविड19 टेस्ट करा लें। इससे पहले मंत्री विश्वास सारंग ने कोरोना के लक्षण आने के बाद अपना सैंपल दिया था। तीन दिन पहले रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद उन्होंने खुद को आईसोलेट कर लिया था, लेकिन रविवार देर रात उनकी दूसरी रिपोर्ट पॉजिटिव आई है।   गौरतलब है कि सारंग से पहले मुख्यमंत्री शिवराज चौहान, मंत्री अरविंद भदौरिया, तुलसी सिलावट के अलावा 10 से अधिक विधायक और नेता कोरोना पॉजिटिव हो चुके हैं। इनमें ज्योतिरादित्य सिंधिया, कांग्रेस विधायक कुणाल चौधरी, धार विधायक नीना वर्मा, जावद से विधायक ओमप्रकाश सकलेचा, पूर्व केंद्रीय मंत्री विक्रम वर्मा, जबलपुर से विधायक लखन घनघोरिया, सिरमौर से विधायक दिव्यराज सिंह और टीकमगढ़ के विधायक राकेश के नाम शामिल हैं।

Dakhal News

Dakhal News 10 August 2020


bhopal, New education policy,implemented , basic reforms, Ajay Vishnoi

भोपाल। मध्यप्रदेश के कद्दावर नेता, पूर्व कैबिनेट मंत्री और पाटन से भाजपा विधायक अजय विश्नोई ने नई शिक्षा नीति को लेकर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को एक पत्र लिखा है, जिसमें उन्होंने मांग की है कि मध्यप्रदेश में बुनियादी जरूरतों को सुधार लेने के बाद ही नई शिक्षा नीति लागू की जाए।   भाजपा विधायक विश्नोई ने पीएम मोदी के लिखे पत्र में कहा है कि मध्य प्रदेश में काबिल शिक्षक नहीं हैं और स्कूलों में भी बुनियादी जरूरतों का भारी अभाव है। इसीलिए नई शिक्षा नीति लागू करने से पहले राज्य सरकार को बुनियादी जरूरतों को सुधार लेना चाहिए, इसके बाद ही नई शिक्षा नीति को प्रदेश में लागू करना चाहिए। उन्होंने पत्र में यह सुझाव भी दिया है कि केंद्र सरकार को टेक्स्ट बुक के लिए एक रेगुलेटरी कमिशन बनाना चाहिए, जो स्कूलों में चलने वाली टेक्स्ट बुक को जांचने के बाद इस बात की अनुमति दें कि ये पुस्तक पढ़ाई जा सकती है या नहीं। विश्नोई का आरोप है कि अभी स्कूलों, खासतौर पर सीबीएसई के स्कूलों में जो पुस्तकें पढ़ाई जा रही हैं, उनके कंटेंट पर कोई काम नहीं किया जाता और स्कूल अपने मन से पुस्तकें लागू कर देते हैं।   विश्नोई ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को भी एक पत्र लिखा है, जिसमें यह सलाह दी गई है कि हर गांव में स्कूल खोलने की बजाए 10 किलोमीटर पर एक ऐसा स्कूल खोला जाए, जिसमें स्मार्ट क्लास, सभी विषयों के शिक्षक, खेलकूद की पूरी व्यवस्था और 10 किलोमीटर के रेडियस में आने वाले बच्चों को लाने की सुविधा की जाए। इससे शिक्षकों द्वारा स्कूलों में गुणवत्ता की पढ़ाई करवाई जा सकेगी।

Dakhal News

Dakhal News 9 August 2020


bhopal, Madhya Pradesh, Preparations , by-election, amid Corona crisis

भोपाल। मध्यप्रदेश विधानसभा की रिक्त 27 सीटों पर आगामी दिनों में उपचुनाव होने हैं। संभावना जताई जा रही है कि सितम्बर के अंत तक यहां उपचुनाव हो सकते हैं। वहीं, प्रदेश में कोरोना का संक्रमण तेजी से फैल रहा है। कोरोना संकट के बीच राज्य के दोनों ही प्रमुख दल भाजपा और कांग्रेस उपचुनाव की तैयारियों में जुटे हैं। दरअसल, यह उपचुनाव तय करेगा कि प्रदेश में सत्ता किसकी होगी। कमलनाथ फिर से कांग्रेस की सरकार बनाएंगे या फिर शिवराज ही राज करेंगे? इसीलिए यह उपचुनाव दोनों ही पार्टी के दिग्गज नेताओं की साख का सवाल बन गया है।   हालांकि, कोरोना के चलते विधानसभा की रिक्त 27 सीटों पर उपचुनाव कब होंगे, इसको लेकर संशय बना हुआ है, क्योंकि जिन विधानसभा क्षेत्रों में चुनाव होना है, वहां कोरोना का संक्रमण तेजी से फैल रहा है। राजनीतिक गलियारों में अटकलें लगाई जा रही हैं कि इस चुनाव में भाजपा और कांग्रेस के दिग्गज नेताओं का भविष्य दांव पर लगा हुआ हा। शिवराज सिंह चौहान, ज्योतिरादित्य सिंधिया और कमलनाथ का आगे का राजनीतिक रास्ता कैसा होगा ये सब चुनाव नतीजे ही बताएंगे। हालांकि रिक्त हुए विधानसभा क्षेत्रों से जो रुझान मिल रहे हैं उनके अनुसार चुनाव में दोनों ही पार्टियों को भितरघात का खतरा ज्यादा है। इसीलिए कहा जा रहा है कि यह उपचुनाव भाजपा और कांग्रेस के बड़े नेताओं का भविष्य तय करेंगे।   दोनों ही पार्टियां उपचुनाव की तैयारियों में जोर-शोर से जुटी हैं। कांग्रेस छोड़ भाजपा में शामिल हुए 25 पूर्व विधायकों का तो भाजपा से चुनाव लडऩा तय है। इससे क्षेत्र के भाजपा नेताओं का भविष्य दांव पर लग गया है। वहीं, कांग्रेस के पास कई क्षेत्रों में चुनाव मैदान में उतारने के लिए उम्मीदवारों का टोटा है। इसलिए कांग्रेस अब भाजपा के हारे और वरिष्ठ नेताओं को अपने पाले में लाने का प्रयास कर रही है। उसे अपनी इस मुहिम में सफलता भी मिल रही है। पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ भाजपा के ऐसे असंतुष्ट नेताओं से खुद मुलाकात कर रहे हैं।   हालांकि, प्रदेश में अब तक हुए उपचुनाव के रुझान कहते हैं कि सत्ता जिसकी होती है, मतदाता उसी का साथ देते हैं। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह के बीते तीन कार्यकालों में वर्ष 2004 से 2019 तक हुए 30 सीटों के उपचुनावों में 19 सीटों भाजपा जीती, जबकि कांग्रेस 10 सीटें ही जीत सकीं। भाजपा का जीत का प्रतिशत 66 से अधिक रहा, जबकि कांग्रेस का उपचुनाव में जीत का प्रतिशत 33 फीसदी रहा, लेकिन इस बार स्थिति बदली हैं। पिछले विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने जीत हासिल कर प्रदेश में सरकार बनाई, लेकिन 15 महीने में ही विधायकों द्वारा इस्तीफा देने से कमलाथ सरकार गिर गई और भाजपा सत्ता में आ गई। अब उपचुनाव के बाद तय होगा कि प्रदेश में सत्ता किसके खाते में जाएगी।

Dakhal News

Dakhal News 9 August 2020


indore, Case filed, against former minister, Jeetu Patwari,tampering photo, PM Modi

इंदौर। मध्यप्रदेश की पूर्ववर्ती कमलनाथ सरकार में मंत्री रहे कांग्रेस विधायक जीतू पटवारी अपने विवादित ट्वीट के चलते लगातार मीडिया की सुर्खियों में छाए रहते हैं। अब वे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के फोटो में छेड़छाड़ कर ट्वीट पर पोस्ट करने को लेकर विवादों में घिर गए हैं। भाजपा की शिकायत के बाद इस मामले में इंदौर के छत्रीपुरा थाना पुलिस ने उनके खिलाफ प्रकरण दर्ज किया है।    दरअसल, जीतू पटवारी ने शनिवार सुबह ट्वीट कर देश के हालात को लेकर प्रधानमंत्री पर तंज कसा था। साथ ही उन्होंने ट्वीट पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का एक फोटो पोस्ट किया था। जीतू पटवारी द्वारा पोस्ट की गई फोटो में पीएम मोदी हाथ में कटोरा लिए हुए दिखाई दे रहे थे। हालांकि, बाद में उन्होंने वह फोटो अपने ट्वीट से हटा लिया था, लेकिन इस मामले को लेकर भाजपा आक्रामक हो गई। शनिवार देर शाम भाजपा के इंदौर नगर अध्यक्ष गौरव रणदीवे के नेतृत्व में पार्टी के एक प्रतिनिधिमंडल ने पुलिस उप महानिरीक्षक हरिनारायणचारी मिश्रा को लिखित में आवेदन और संबंधित फोटो सौंपकर पटवारी के खिलाफ सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम और अन्य धाराओं के तहत मामला दर्ज करने का अनुरोध किया।    डीआईजी से मुलाकात के दौरान नगर अध्यक्ष गौरव रणदीवे, सांसद शंकर लालवानी, पूर्व महापौर मालिनी गौड़, विधायक रमेश मेंदोला सहित कई नेता मौजूद थे। नगर अध्यक्ष गौरव रणदिवे ने यहां तक कहा था कि विधायक जीतू पटवारी का मानसिक संतुलन खराब हो गया। उन्होंने यह भी कहा था कि हम विधानसभा में भी कांग्रेस विधायक की सदस्यता समाप्त करने की मांग करेंगे।    छत्रीपुरा थाना पुलिस ने शिकायत की प्रारंभिक जांच के बाद विधायक जीतू पटवारी के खिलाफ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के फोटो के साथ छेड़छाड़ कर उसे सोशल मीडिया पर पोस्ट करने के मामले में प्राथमिकी दर्ज कर ली है। पुलिस का कहना है कि मामले की जांच जारी है।

Dakhal News

Dakhal News 9 August 2020


jabalpur, Former BJP minister, advises , own government

  जबलपुर। भाजपा प्रदेश सरकार के पूर्व मंत्री व वर्तमान जबलपुर के पाटन विधानसभा क्षेत्र के विधायक अजय विश्नोई ने अपनी ही सरकार को एक बार पुनः नसीहत दे डाली है।    उन्होंने अपने ऑफिसल फेसबुक पेज के माध्यम से प्रेषित किए गए पत्र में कहा है कि नई शिक्षा नीति देश के भविष्य की दशा और दिशा बदल देगी, इसमें कोई शंका नहीं, लेकिन, शिक्षा नीति को लागू करने में जल्दबाजी नहीं की जाना चाहिए। साथ ही देश में ‘टेक्स्ट बुक रेगुलेटरी बोर्ड’ बनाया जाना भी जरुरी है, ताकि देश में शिक्षा के साथ किताबों में भी एकरूपता रहे, और जो इस दिशा में भी पहल करें।   

Dakhal News

Dakhal News 8 August 2020


bhopal, MP , better implement ,Ease of Life, Shivraj

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि आम आदमी की जिन्दगी सरल हो, उसे किसी कार्यालय के चक्कर न लगाने पड़ें, यही सुशासन है और इसे लागू करने के लिए मध्यप्रदेश में जो पूर्व में कार्य हुआ है, उसे तकनीकी सहयोग से अधिक बेहतर तरीके से क्रियान्वित किया जाएगा। उन्‍होंने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने भी कहा है कि कोविड-19 एक चुनौती है जिसे अवसर में बदलने की आवश्यकता है। मध्यप्रदेश में इस दिशा में प्रयास किया जा रहा है कि कार्यों को पेपरलैस बनाकर गवर्नेन्स का लाभ आमजन को दिया जाए। मध्यप्रदेश इस दिशा में पूर्व अनुभवों के आधार पर ज्यादा अच्छे परिणाम देने के लिए तैयार है।   मुख्यमंत्री चौहान ने शनिवार को आत्मनिर्भर भारत का रोडमैप तैयार करने की दृष्टि से श्रृंखलावद्ध हो रहे वेबीनार के दूसरे दिन सुशासन पर केन्द्रित विचार-विमर्श का शुभारंभ किया। इस दौरान उन्‍होंने कहा कि गुड-गवर्नेन्स से ई-गवर्नेन्स और अब हम एम-गवर्नेन्स की ओर जा रहे हैं। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि आम आदमी के लिए ईज ऑफ लाइफ सरकार का ध्येय रहेगा। इन प्रयासों को बेहतर ढंग से करते हुए प्रदेश के नागरिकों के जीवन में संतुष्टि और जीवन के आनंद का स्तर बढ़ाने का कार्य किया जाएगा।   मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी जो चुनौतियों का डटकर मुकाबला करने वाले अद्भुत नेता हैं, उन्होंने आत्मनिर्भर भारत का संकल्प दिलवाया है। मध्यप्रदेश इसके अनुरूप आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश का निर्माण कर दिखायेगा। आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश का दस्तावेज तैयार करने के लिए ऐसे विचार जो जमीन पर उतर सकते हैं, उन्हें अमल में लाया जाएगा। इस वेबीनार में मिले सुझाव आम जनता के कल्याण की दृष्टि से उपयोगी होंगे।   मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश में प्राकृतिक संसाधन, आदर्श भौगोलिक स्थिति, अच्छा उत्पादन, वनोपज, कला, संस्कृति, पर्यटन, हाथकरघा, सांस्कृतिक परम्पराएं विद्यमान हैं। आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश के लिए महत्वपूर्ण सुझाव प्राप्त होंगे। लेकिन बिना सुशासन के इन्हें लागू नहीं किया जा सकता। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि उन्होंने पुराने कार्यकाल में अपूर्ण सिंचाई योजनाओं को पूरा किया। अधूरे बांधों का निर्माण किया गया। इसके फलस्वरूप सिंचाई क्षमता सात लाख हेक्टेयर से बढ़कर चालीस लाख हेक्टेयर को पार कर गई।   मध्यप्रदेश में सुशासन के लिए उठाये गये हैं ठोस कदम मुख्यमंत्री चौहान ने बताया कि मध्यप्रदेश में पूर्व वर्षों में उनके कार्यकाल में लोकोन्मुखी प्रशासनिक व्यवस्था लागू की गई। इसके लिए समाधान ऑनलाइन, जनदर्शन, वन-डे गवर्नेन्स, पब्लिक सर्विस गारंटी कानून बनाकर आमजन को त्वरित समाधान उपलब्ध करवाया गया। संयुक्त राष्ट्र संघ ने भी इसे पुरस्कृत किया। इसके अलावा सिटीजन चार्टर में सेवाओं के समय पर न दिए जाने के दोषी लोगों को दण्डित करने का कार्य भी किया गया। इस व्यवस्था का अन्य राज्यों ने भिन्न-भिन्न नामों से अनुसरण किया। यही नहीं सीएम हेल्पलाइन और सीएम मॉनिट की प्रभावी व्यवस्था लागू की गई। मुख्यमंत्री चौहान ने उम्मीद व्यक्त की कि आज इस वेबीनार में भिन्न समूह इन प्रयासों की चर्चा करेंगे।   कार्य की समाधान प्रक्रिया में व्यक्ति बाधा न बने , सिंगल सिटीजन डाटाबेस शीघ्र मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि सुशासन के अंतर्गत पारदर्शी और उत्तरदायी प्रशासन आवश्यक है। कई नियम बदले भी गए हैं। इसका उद्देश्य प्रामाणिकता के साथ लोक सेवाओं का प्रदाय है। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि नियम, कानून आमजन के लिए होते हैं। आमजन नियम, कानून के लिए नहीं है। यदि किसी कार्य या समाधान प्रक्रिया में कोई व्यक्ति बाधा बनता है, तो यह अनुचित है। सूचना प्रौद्योगिकी के प्रयोग से इंसान बहुत से सरकारी कार्यों के बीच में नहीं आता। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश में किए गए नवाचार लोगों के लिए राहत का माध्यम बने हैं। शीघ्र ही सिंगल सिटीजन डाटाबेस के अंतर्गत एक ही स्थान पर, एक ही पोर्टल के माध्यम से विभिन्न योजनाओं के क्रियान्वयन का कार्य आसानी से हो सकेगा। इसके लिए तेजी से कार्रवाई की जा रही है।   त्रैमासिक बजट व्यवस्था और लक्ष्य प्राप्ति की समय सीमा मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि सुशासन के लिए आवश्यक है कि प्रत्येक विभाग के लक्ष्य निर्धारित हों। हर तिमाही में बजट का सदुपयोग होता रहे। यह न हो कि राशि वर्षान्त में ही खर्च हो। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कान्त द्वारा वेबीनार में मध्यप्रदेश के लिए सुझाए गए डैश बोर्ड के अनुरूप पूर्व में मॉनिटरिंग सिस्टम विकसित किया गया, जिसका लाभ प्रदेश को मिला। कुछ घंटों में होने वाले कार्य महीनों नहीं टाले जा सकते। मध्यप्रदेश में काम टालकर योजनाओं को कागज ही पर ही रखने की प्रवृत्ति नहीं चलने दी जाएगी। एक नई कार्यशैली से आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश के उद्देश्य को प्राप्त किया जाएगा। मुख्यमंत्री चौहान ने वेबीनार में शामिल हुए राज्यसभा सदस्य विनय सहस्त्रबुद्धे, महाधिक्ता पुरुषेन्द्र कौरव और अन्य प्रतिभागियों का स्वागत किया।   मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस ने कहा कि आत्मनिर्भर मध्य प्रदेश बनाने में वेबीनार में प्राप्त सुझाव महत्वपूर्ण साबित होंगे। उन्होंने कहा कि कोविड-19 की चुनौती को अवसर में बदलने का यह समय है और हम इसका उपयोग करेंगे। नीति आयोग के सहयोग से आयोजित वेबीनर मध्य प्रदेश के लिए परिणाम मूलक साबित होंगे।   नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत ने मध्यप्रदेश के इंदौर और भोपाल में नई तकनीक के उपयोग में हो रहे अच्छे कामों की प्रशंसा की। उन्होंने कहा कि नीति आयोग के द्वारा प्रधानमंत्री जी के समक्ष विभिन्न विषयों में 7 प्रेजेंटेशन प्रस्तुत किए गए हैं। उन्होंने मुख्यमंत्री से अपेक्षा की कि उन सभी प्रेजेंटेशन के एक्सपेरिमेंटेशन और इंप्लीमेंटेशन की शुरुआत मध्यप्रदेश से की जाए। निश्चित ही इससे मध्यप्रदेश को नंबर वन राज्य बनने में मदद मिलेगी। उन्होंने कहा कि डिजिटल सिस्टम को फिजिकल सिस्टम के पहले प्राथमिकता देने में बहुत सारी चुनौतियां हैं, उन्होंने विश्वास जताया कि इस दिशा में भी मध्यप्रदेश अच्छा कार्य करेगा। प्रदेश में उन्नत तकनीकी के इस्तेमाल में भी बेहतर कार्य किया गया है। नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत ने लोगों की ईज़ ऑफ लिविंग के लिए नई तकनीकों के उपयोग पर जोर देते हुए कहा है प्रदेश में इस क्षेत्र में पूर्व से ही कार्य किये जा रहे है, आगे और बेहतर तरीके से कार्य किया जा सकेगा। उन्होंने कहा कि विभिन्न योजनाओं के हितग्राहियों को बेहतर तरीके से लाभ देने के लिए इंटीग्रेटेड लिस्ट ऑफ बेनिफिसियरीज का प्रयोग सुशासन को और अधिक बढ़ावा देगा।   नीति आयोग की वरिष्ठ सलाहकार एना राय ने मुख्यमंत्री चौहान की प्रशंसा करते हुए कहा कि प्रदेश की जनता को योजनाओं का अधिक से अधिक लाभ पहुंचाने और पारदर्शिता को बनाए रखने में मध्यप्रदेश में बेहतर कार्य किया जा रहा है। नोटबंदी के बाद देश में बहुत अच्छा काम किया गया। इसके बाद हमारा देश डिजिटल पेमेंट में अन्य देशों की तुलना में बहुत आगे हैं। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश में अकाउंटेबिलिटी और मॉनिटरिंग के लिए बहुत अच्छे कार्य हो रहे हैं। सुशासन के लिए अकाउंटेबिलिटी और मॉनिटरिंग सबसे अधिक महत्वपूर्ण है। उन्होंने रियल टाइम डाटा कलेक्शन और डाटा की वैलिडिटी को बनाए रखने पर जोर दिया। एना ने कहा कि सुशासन में ऑनलाइन पोर्टल सर्विस डिलीवरी बहुत उपयोगी सिद्ध हो रही है। सुशासन के लिए सभी विभागों में सामंजस्य जरूरी है। इसके लिये मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में अंतरविभागीय बैठक की जा सकती हैं।   सुशासन वेबीनार के प्रांरभ में टीम लीडर अपर मुख्य सचिव एस.एन मिश्रा ने सभी प्रतिभागियों का का स्वागत करते हुए वेबीनार में आयोजित होने वाले सत्रों एवं उनमें होने वाले ग्रुप डिस्कशन की जानकारी दी। उन्होंने बताया कि विभिन्न सत्रों में हुई समूह चर्चा में जो सुझाव प्राप्त होंगे, उन सब को शामिल कर सत्र के अंत में मुख्यमंत्री के समक्ष प्रस्तुत किया जाएगा।

Dakhal News

Dakhal News 8 August 2020


bhopal, Committee set up, review decisions ,Council of Ministers

भोपाल। राज्य शासन द्वारा 23 मार्च, 2020 से 6 माह पूर्व तक के मंत्रि-परिषद निर्णयों की समीक्षा के लिये मंत्रि-परिषद समिति का गठन किया गया है। समिति में गृह, जेल, संसदीय कार्य, विधि एवं विधायी कार्य मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा, वाणिज्यिक कर, वित्त, योजना, आर्थिक एवं सांख्यिकी मंत्री जगदीश देवड़ा, खाद्य, नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता संरक्षण मंत्री बिसाहूलाल सिंह, राजस्व, परिवहन मंत्री गोविन्द सिंह राजपूत और खनिज साधन एवं श्रम मंत्री बृजेन्द्र प्रताप सिंह सदस्य बनाये गये हैं।   जनसम्पर्क अधिकारी नीरज शर्मा ने इस संबंध में जानकारी देते हुए बताया कि शुक्रवार को देर रात गठित इस समिति में अपर मुख्य सचिव सामान्य प्रशासन विभाग समन्वयक होंगे। पूर्व में गठित मंत्री समूह के द्वारा आरंभ की गई कार्रवाई भी इस मंत्रि-परिषद समिति के समक्ष प्रस्तुत की जायेगी। समिति द्वारा उक्त अवधि के निर्णयों की समीक्षा कर वस्तु-स्थिति का प्रतिवेदन मंत्रि-परिषद के समक्ष प्रस्तुत किया जायेगा।

Dakhal News

Dakhal News 8 August 2020


bhopal, Bhamashah scheme , implemented again, Madhya Pradesh,Chief Minister

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने गुरुवार को एक समीक्षा बैठक में राजस्व प्राप्तियों की समीक्षा की। इस दौरान उन्होंने निर्देश दिए कि ईमानदार टैक्स पेयर्स को सम्मानित करने की भामाशाह योजना पुन: प्रारंभ की जाए। ईमानदारी से कर चुकाने वाले लोगों को प्रोत्साहन देना भी जरूरी है। गत वर्ष इस योजना पर ध्यान न दिए जाने से अनेक करदाता निरुत्साहित हो गए हैं। ज्यादा टैक्स जमा करने वालों का सम्मान होने से टैक्स जमा करने के लिए सभी वर्ग प्रेरित होते हैं। उन्होंने कहा कि इसी वर्ष से इस योजना का प्रभावी क्रियान्वयन किया जाए।मुख्यमंत्री ने बैठक में कहा कि प्रदेश में अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए राजस्व प्राप्तियां आवश्यक हैं। इनमें वृद्धि होना चाहिए। राजस्व प्राप्तियों की वर्तमान स्थिति में सुधार के लिए मंत्री विभागीय अधिकारियों से प्रति सप्ताह समीक्षा करें। कोविड-19 के हालातों में अर्थव्यवस्था दुरस्त करने के उद्देश्य से विभिन्न मदों में राजस्व बढ़ाना आवश्यक है। इसके लिए रणनीति बनाकर कार्य किया जाए। प्रदेश में राजस्व प्राप्तियों के संबंध में समीक्षा के लिए एक पखवाड़े के बाद पुन: बैठक होगी।मुख्यमंत्री ने समीक्षा बैठक में वाणिज्यिक कर, आबकारी, वन, खनिज, ऊर्जा, परिवहन, स्टांप एवं पंजीयन आदि विभागों से संबंधित करों की प्राप्ति के बारे में विस्तार से जानकारी ली। उन्होंने कहा कि कर अपवंचन करने वालों के विरुद्ध वैधानिक कार्रवाई की जाए। राजस्व संग्रहण के पूरे प्रयास हर स्थिति में हों। प्रयास यह हो कि गत वर्ष की स्थिति में तो आ ही जाएं। यदि राजस्व संग्रहण से जुड़े शासकीय विभागों के मुख्यालय और फील्ड के किसी भी दफ्तर में कोरोना पॉजिटिव रोगी पाया जाता है तो इस स्थिति में पूरा कार्यालय बंद करने की आवश्यकता नहीं है। एक दिन कार्यालय बन्द कर आवश्यक सेनेटाईजेशन और अन्य प्रोटोकाल के पालन के साथ राजस्व संग्रहण की गतिविधियाँ जारी रखी जाएं। कार्यालय पूरी क्षमता के साथ कार्य करें। उन्होंने कहा कि अगले कुछ माह कोरोना के साथ ही जीना है। आर्थिक गतिविधियों को रोकने का कोई औचित्य नहीं है। पुरानी रिकवरी करते हुए अनियमितताओं पर नियंत्रण के प्रयास किए जाएं।मुख्यमंत्री ने समाधान योजना, कर अपवंचन प्रवर्तियों के रोकने के प्रयासों, वेट/स्टेट जीएसटी की स्थिति की जानकारी ली और निर्देश दिए कि गड़बडिय़ाँ रोकने की कार्रवाई करते हुए और बेहतर वसूली की जाए। उन्होंने आबकारी आय की जानकारी प्राप्त करते हुए निर्देश दिए कि प्रदेश में कहीं भी किसी भी डिस्टलरीज से अवैध रूप से शराब कहीं न जाए। इसे रोकने के लिए तकनीक आधारित पद्धति विकसित की जाए। इससे आय वृद्धि होगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि गौण खनिजों से संबंधित अनियमितताओं की खबरें मिलती हैं। ऐसी अनियमित्ताओं को रोका जाए। इसके लिए पृथक समिति भी राज्य स्तर पर गठित करने का विचार है। वाहनों के बकाया कर की वसूली भी की जाए। राज्य में बसों के नियमित संचालन के अलावा सरल योजना के अमल, अन्य प्रांतों के वाहनों से कर प्राप्त करने, लाइफ टाइम टैक्स, परिवहन निगम की भूमि के संबंध में भी चर्चा हुई। मुख्यमंत्री ने ऊर्जा, वन क्षेत्र में भी राजस्व प्राप्ति की जानकारी प्राप्त की।वित्त, वाणिज्यिक कर, योजना एवं आर्थिक सांख्यिकी मंत्री जगदीश देवड़ा, श्रम एवं खनिज मंत्री ब्रजेन्द्र प्रताप सिंह, ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर, वन मंत्री विजय शाह और राजस्व एवं परिवहन मंत्री गोविन्द सिंह राजपूत के साथ ही मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस और अन्य अधिकारी बैठक में उपस्थित थे।

Dakhal News

Dakhal News 6 August 2020


bhopal, Shivraj ,lashed out, Punjab CM ,Amarinder Singh

भोपाल। मध्यप्रदेश के बासमती चावल को भौगोलिक संकेत टैग (जीआई टैगिंग) दिलाने के लिए मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान लगातार प्रयास कर रहे हैं, लेकिन पंजाब सरकार ने इसका विरोध किया है। पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को एक पत्र लिखकर कहा है कि मप्र के बासमती चावल को जीआई टैगिंग न दी जाए। इस मामले में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने अमरिंदर द्वारा भेजे गए पत्र की निंदा की है। साथ ही कहा है कि उन्हें मध्यप्रदेश के किसानों से क्या दुश्मनी है?   मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान गुुरुवार को सिलसिलेवार ट्वीट करते हुए कहा है कि ‘मैं पंजाब की कांग्रेस सरकार द्वारा मध्यप्रदेश के बासमती चावल को जीआई टैगिंग देने के मामले में प्रधानमंत्री जी को लिखे पत्र की निंदा करता हूं और इसे राजनीति से प्रेरित मानता हूं। मैं पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह से यह पूछना चाहता हूँ कि आखिर उनकी मध्यप्रदेश के किसान बन्धुओं से क्या दुश्मनी है? यह मध्यप्रदेश या पंजाब का मामला नहीं, पूरे देश के किसान और उनकी आजीविका का विषय है।’   उन्होंने लिखा है कि ‘मध्य प्रदेश को मिलने वाले जीआई टैगिंग से अंतरराष्ट्रीय बाजारों में भारत के बासमती चावल की कीमतों को स्टेबिलिटी मिलेगी और देश के निर्यात को बढ़ावा मिलेगा। मध्य प्रदेश के 13 जिलों में वर्ष 1908 से बासमती चावल का उत्पादन हो रहा है, इसका लिखित इतिहास भी है।’   मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि पाकिस्तान के साथ एपीईडीए के मामले का मध्यप्रदेश के दावों से कोई संबंध नहीं है क्योंकि यह भारत के जीआई एक्ट के तहत आता है और इसका बासमती चावल के अंतर्देशीय दावों से इसका कोई जुड़ाव नहीं है। पंजाब और हरियाणा के बासमती निर्यातक मध्यप्रदेश से बासमती चावल खरीद रहे हैं। भारत सरकार के निर्यात के आंकड़े इस बात की पुष्टि करते हैं। भारत सरकार वर्ष 1999 से मध्यप्रदेश को बासमती चावल के ब्रीडर बीज की आपूर्ति कर रही है।’   उन्होंने लिखा है कि ‘सिंधिया स्टेट के रिकॉर्ड में अंकित है कि वर्ष 1944 में प्रदेश के किसानों को बीज की आपूर्ति की गई थी। इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ राईस रिसर्च, हैदराबाद ने अपनी 'उत्पादन उन्मुख सर्वेक्षण रिपोर्ट' में दर्ज किया है कि मध्यप्रदेश में पिछले 25 वर्ष से बासमती चावल का उत्पादन किया जा रहा है।’   गौरतलब है कि पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को बुधवार को एक पत्र लिखा है, जिसमें उन्होंने मध्यप्रदेश के बासमती चावल को जीआई टैगिंग नहीं देने की मांग करते हुए कहा है कि इससे पाकिस्तान को फायदा होगा। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने उनके इस बयान की निंदा करते हुए उन पर निशाना साधा है।

Dakhal News

Dakhal News 6 August 2020


bhopal, Home Minister, targeted Congress,  cheated farmers

  भोपाल। मध्य प्रदेश में 27 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव होने वाले हैं। इसको लेकर भाजपा और कांग्रेस के नेता किसान, बेरोजगारी, कर्जमाफी, महिला सुरक्षा जैसे मामलों पर एक दूसरे को घेरने की तैयारी में हैं। वहीं, अब उपचुनाव के मुद्दों में राम मंदिर भी शामिल हो गया है। भाजपा के साथ कांग्रेस भी राम मंदिर के नाम पर वोट मांगने की रणनीति बना रही है। कांग्रेस की रणनीति पर मप्र के गृह एवं जेल मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने निशाना साधा है। कांग्रेस कार्यालय के राममय होने पर गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा है कि यही तो हम चाहते थे, सियाराम मय सब जग जानी। सारा जग सियाराम हो जाए, इससे ज्यादा और अच्छे दिन क्या चाहिए। कितने अच्छे दिन आ गए हैं, पीसीसी में भगवान राम लग जाए, यही हमारी कल्पना थी कि सब सियाराम मय हो।   गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने गुरुवार को मीडिया से बातचीत में कहा कि सवाल पार्टी की नीति का नहीं, राष्ट्र का है, बीजेपी जितने निर्णय लेती है वह राष्ट्रहित के होते हैं। बहुजन हिताय, बहुजन सुखाय यह सोच लेकर के राजनीति में आते हैं। गृह मंत्री अमित शाह ने जो कहा वह किया, भाजपा की यही विशेषता है जो कहती है वह करती है, आज ना दो प्रधान है ना दो विधान। हमने कहा था एक देश में दो विधान दो प्रधान नहीं चलेंगे, आज भारत और कश्मीर का संविधान एक है। हमने कहा था सौगंध खाते हैं मंदिर वहीं बनाएंगे, बना दिया। हमने कहा ट्रिपल तलाक हटाएंगे, हटा दिया। भाजपा एकमात्र पार्टी है जो कहती है, वो करती है। वहीं उपचुनाव में राम मंदिर को मुद्दा बनाने की कांग्रेस की तैयारी पर गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि कांग्रेस के सारे वकील राम मंदिर के खिलाफ कोर्ट में लड़ चुके हैं। राम मंदिर को लेकर कांग्रेस का विरोध रिकॉर्ड में है। तमिलनाडु सरकार ने हलफनामा देकर राम को काल्पनिक बताया था, रामसेतु को हमेशा कांग्रेस में काल्पनिक बताया था। राम के ऊपर सवाल उठाने वाले अब कैसे ऐसा कह सकते हैं।   कांग्रेस का काम सिर्फ कमियां निकालनापूर्व सीएम कमलनाथ के शिलान्यास में आमंत्रित सदस्यों को लेकर सवाल खड़े करने पर मंत्री मिश्रा ने कहा कि कांग्रेस का काम सिर्फ कमियां निकालना है। कमलनाथ को मध्य प्रदेश के किसानों की चिंता करनी चाहिए, मध्य प्रदेश के किसानों पर पंजाब की सरकार कुठाराघात कर रही है। पंजाब सरकार बासमती चावल पर आपत्ति लगा रही है। इस पर कमलनाथ मौन क्यों है। किसानों के नाम पर झूठे वादे कर कांग्रेस ने सरकार बना दिया और आज भी किसानों के साथ धोखा कर रही हैं। जब जब किसान की बात आती है कांग्रेस के सभी नेता खामोश रहते हैं।   किसानों के हित में बनाई कृषि कैबिनेट प्रदेश सरकार द्वारा कृषि कैबिनेट बनाए जाने पर मंत्री मिश्रा ने कहा कि किसानों के हितों की चर्चा के कृषि कैबिनेट लिए बनाई गई है। बैठक होगी तो किसानों के हितों पर चर्चा की जाएगी। उन्होंने कहा कि  मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के लिए किसान हमेशा प्राथमिकता में रहे हैं। पहले भी कृषि कैबिनेट बनाई गई, पहले भी कृषि का बजट मध्य प्रदेश के विधानसभा में अलग से प्रस्तुत हुआ है। मंत्री मिश्रा ने बताया कि देश में पहला ऐसा प्रदेश जहां कृषि कैबिनेट बनी है। किसान का बेटा मुख्यमंत्री है तो स्वाभाविक है मध्य प्रदेश में किसानों के हित में फैसले होंगे। कांग्रेस पर साधा निशाना पंजाब सरकार के बासमती टैग का विरोध करने पर मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि पंजाब में कांग्रेस की सरकार है और कांग्रेस हमेशा से ही किसान विरोधी रही है। मामला कृषि समिति पर विचाराधीन है और दिल्ली सरकार फैसला करेगी। इस पर मध्य प्रदेश में पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ बताएं वह किसके साथ है।  

Dakhal News

Dakhal News 6 August 2020


ayodhya, Prime Minister, Narendra Modi, laid,foundation stone, Shri Ram temple

अयोध्या। अयोध्या में भव्य राम मंदिर निर्माण के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने यहां अभिजीत मुहूर्त में भूमिपूजन किया। यह मुहूर्त कुल 32 सेकंड का रहा। षोडश वरदानुसार 15 वरद में ग्रह स्थितियों का संचरण शुभ और अनुकूलता प्रदान करने वाला है।   प्रधानमंत्री ने आयोजन स्थल पर पहुंचने पर सभी विशिष्ट आमंत्रित अतिथियों का हाथ जोड़कर अभिवादन किया। इस दौरान सामाजिक दूरी का पूरी तरह से पालन किया गया। भूमिपूजन स्थल पर प्रधानमंत्री और सभी आचार्यों के आसन के बीच दूरी का खास ध्यान रखा गया।    मंत्रोच्चार के बीच प्रधानमंत्री पूर्व की दिशा में मुख कर पूजन में शामिल हुए। उन्होंने विधिवत पूजन प्रक्रिया का पालन किया। यजमान के रूप में प्रधानमंत्री नरेंद्र दामोदरदास मोदी को संकल्प दिलाया गया। भगवान श्री गणेश की स्तुति के साथ प्रधानमंत्री ने आचमन किया। इस दौरान सभी देवताओं का ध्यान किया गया। पांच सौ वर्षों बाद इस शुभ घड़ी के लिए धन्यवाद किया गया।    जिस स्थल पर रामलला विराजमान थे उसी स्थल पर शिलाओं का पूजन किया गया। भूमिपूजन स्थल पर राम मन्दिर आन्दोलन से जुड़े भक्तों की ओर से भेजी गई नौ शिलाएं रखी हुई थीं। प्रधानमंत्री ने पहले प्रधान शिलापूजन संकल्प होने के बाद अष्ट उपशिला का पूजन किया। प्रभु श्रीराम की कुलदेवी के पूजन के साथ ही सभी देवियों का पूजन किया गया। प्रधामनंत्री ने मुख्य कूर्म शिला का पूजन किया। इसके बाद कूर्म शिला पर पंचधातु जड़ित कमलपुष्प अर्पण किया।    भूमिपूजन के दौरान राज्यपाल आनंदीबेन पटेल, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक मोहन भागवत ने भी अपनी ओर से भेंट समर्पित ​की। इस दौरान श्री राम जन्म्भूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के पदाधिकारी मौजूद रहे।

Dakhal News

Dakhal News 5 August 2020


bhopal, Ram Durbar ,decorated, home minister, took blessings

भोपाल। अयोध्या में राम मंदिर भूमि पूजन को लेकर मध्य प्रदेश में भी भक्तों में भारी उत्साह देखने को मिल रहा है। जब अयोध्या में भूमि पूजन होगा तब मध्य प्रदेश के विभिन्न मंदिरों में भजन और आरती की जाएगी। शाम को मंदिरों सहित घरों में दीप जलाकर आज का दिन उत्साह से मनाए जाने की तैयारी है। मप्र के गृहमंत्री डॉ नरोत्तम मिश्रा के निवास पर भी राम दरबार सजा। गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने चार इमली स्तिथ क्रांतिश्वर शिव मंदिर आश्रम में पूजा पाठ कर भगवान का आशीर्वाद लिया, साथ ही सुंदरकांड में सम्मिलित हुए।   राम मंदिर के भूमि पूजन को लेकर मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि सैंकड़ों सालों बाद ऐतिहासिक दिन आज आया है। इस दौरान उन्होंने दिग्विजय पर तंज कसते हुए लगातार ट्वीट और बयानबाजी करने वाले कांग्रेस नेताओं को कैकई, मंथरा बताते हुए कहा कि ऐसे समय में भी कई लोग बयानबाजी से बाज नही आ रहे हैं। बताते चले कि इससे पहले पहले मंगलवार शाम भी गृहमंत्री के निवास पर पूरे परिवार सहित राम दरबार की पूजा और भगवान राम की आरती की हुई थी। उन्होंने अपने बंगले पर दीपक जलाकर प्रकाश किया था। इस दौरान कारसेवकों को सम्मान भी किया गया था।   कृषि मंत्री कमल पटेल ने हरदा में की पूजा अर्चनामध्यप्रदेश के कृषि मंत्री कमल पटेल ने आज हरदा मे पूजा अर्चना कर बरसों बाद भगवा जैकेट धारण किया। साथ में भगवान श्रीराम से आज्ञा लेकर पुन: भगवा दुपट्टा धारण किया। मंत्री पटेल ने मां नर्मदा की पूजा अर्चना कर देश व प्रदेश वासियों के कल्याण हेतु प्रार्थना की। साथ ही उन्होंने प्रदेश के किसानों के लिए सुख समृद्धि की कामना की।

Dakhal News

Dakhal News 5 August 2020


bhopal, CM Shivraj, wins battle, Corona, thanks medical staff , discharge from hospital

भोपाल। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को बुधवार को अस्पताल से छुट्टी मिल गई है। अब वे पूर्णत: स्वस्थ हैं। उनकी कोरोना संक्रमण की तीसरी जांच रिपोर्ट निगेटिव आई है। हालांकि कोविड-19 गाइडलाइन के मुताबिक अगले 7 दिन तक सावधानीपूर्वक अपने निवास में रहेंगे और स्वयं के स्वास्थ्य का परीक्षण भी करेंगे।   अस्पताल से डिस्चार्ज होने के पहले सीएम शिवराज ने सीमित के लोगों के समक्ष प्रदेशवासियों को संबोधित किया। सीएम शिवराज ने कहा कि कोरोना योद्धाओं को मेरा प्रणाम, मैं सभी मेडिकल स्टाफ को ह्रदय से धन्यवाद देता हूँ। उन्होंने एक बार फिर जनता को समझाइश देते हुए अपील कर कहा कि कोरोना से डरने की ज़रूरत नहीं है, हमें लापरवाही नहीं करनी है। लापरवाही करने पर ये बीमारी जानलेवा हो जाती है। कोरोना से किसी को घबराना नहीं है, लक्षणों को छिपाना जानलेवा, चिंता न करें, मस्त रहे। आनंद से बीमारी का मुकाबला करें। चेहरे पर मास्क लगाना ज़रूरी, उचित दूरी बनाए रखें, लापरवाही करने पर दिक्कत होती है।    उन्होंने कहा कि हमने भी लापरवाही की, मै खुद कोरोना योद्धा बन गया हूँ, कोरोना खत्म करने के लिए सहयोग करें। हम लड़ेंगे, हम जीतेंगे यह हमारा संकल्प है। कोरोना से प्रदेश जीतेगा, देश जीतेगा। गौरतलब है कि सीएम शिवराज कोरोना संक्रमण के चलते राजधानी भोपाल के चिरायु अस्पताल में पिछले 10 दिनों से भर्ती थे। जहां उनका उपचार चल रहा था। 

Dakhal News

Dakhal News 5 August 2020


bhopal, Kamal Nath,send 11 silver bricks ,construction , Ram temple, targeted at BJP

  भोपाल। अयोध्या में राम मंदिर शिलान्यास से पहले कांग्रेस भी राम नाम का जाप कर रही है। शिलान्यास के एक दिन पहले मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ के भोपाल स्थित निवास पर मंगलवार को हनुमान चालीसा पाठ का आयोजन हुआ। ग्यारह पंडितों द्वारा राम दरबार सजाकर हनुमान चालीसा के पाठ का भव्य आयोजन कमलनाथ की उपस्थिति में संपन्न हुआ। इस अवसर पर मधुर भजनों द्वारा भगवान हनुमान की स्तुति और पूजन किया गया। तत्पश्चात आरती कर प्रदेश की खुशहाली, समृद्धि उन्नति की सभी ने सामूहिक रूप से कामना की गई।   हनुमान चालीसा का पाठ संपन्न होने के बाद मीडिया से बातचीत करते हुए पूर्व सीएम कमलनाथ ने कहा कि आज खुशी का दिन है। हमने प्रदेश की ख़ुशहाली, उन्नति, समृद्धि को लेकर आज हनुमान जी का पूजन व पाठ किया। हम राम मंदिर निर्माण का स्वागत करते है। राम मंदिर निर्माण को राजीव गांधी का सपना बताते हुए कमलनाथ ने कहा कि राजीव गांधी ने 1985 में इसकी शुरुआत की और 1989 में शिलान्यास किया। राजीव गांधी के कारण ही राम मंदिर का सपना आज साकार हो रहा है। आज राजीव जी होते तो यह सब देखते। इस दौरान कमलनाथ ने कहा कि हम राम मंदिर निर्माण के लिये प्रदेश की जनता की ओर से 11 चाँदी की शीला भेज रहे हैं। भारत की संस्कृति सभी को जोडऩे वाली है। यहाँ विभिन्न भाषाएँ, विभिन्न धर्मों के लोग रहते है और यह हमारी पहचान है।   हम कुछ भी करते हुए भाजपा के पेट में दर्द होता हैइस दौरान भाजपा पर निशाना साधते हुए कमलनाथ ने कहा कि हम जब भी कुछ करते है, भाजपा के पेट में दर्द पता नहीं क्यों चालू हो जाता है। क्या धर्म पर उनका पेटेंट है, उनका ठेका है, उन्होंने धर्म की एजेंसी ली हुई है क्या? उन्होंने कहा कि मैंने छिन्दवाड़ा में हनुमान जी की मूर्ति स्थापित की। हमने अपनी सरकार में गौशालाएँ बनवायी, रामवनगमन पथ के निर्माण की बाधाएँ दूर की, महाकाल व ओंकारेश्वर मंदिर के विकास की योजना बनायी। कमलनाथ ने तंज कसते हुए कहा कि बस हम धर्म का उपयोग राजनीति के लिये नहीं करते है, हम इसे इवेंट नहीं बनाते है। हम सभी की सोच धार्मिक है लेकिन हम धर्म और राजनीति का गठजोड़ नहीं करते है। आज का हमारा आयोजन भावना की लाइन है।  

Dakhal News

Dakhal News 4 August 2020


bhopal,Home Minister, targeted Congress, Sunderkand organized

भोपाल। मध्य प्रदेश की राजनीति में राम मंदिर निर्माण का मुद्दा जोरों से छाया हुआ है। भाजपा और कांग्रेस नेता मंदिर निर्माण को लेकर खूब बयानबाजी कर रहे हैं और एक दूसरे पर आरोप प्रत्यारोप लगा रहे हैं। पूर्व सीएम और पीसीसी अध्यक्ष कमलनाथ मंगलवार को हनुमान चालीसा का पाठ करवाया। उन्होंने प्रदेशभर के कांग्रेस कार्यकर्ताओं से अपने घरों में हनुमान चालीसा का पाठ करने की अपील की थी। कांग्रेस में राम भक्त बनने की होड़ पर प्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने निशाना साधा है। उन्होंने कहा है कि कांग्रेस को समझना चाहिए कि रामभक्त इतने नासमझ नहीं हैं कि कथनी और करनी का भेद नहीं समझ पाएं। उसका एक नेता सुंदर कांड कराने की बात करता है तो दूसरा लंका कांड में व्यस्त है। राममंदिर मुद्दे पर कांग्रेस का स्वांग अब और नहीं चलेगा।   गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने मंगलवार को मीडिया से बातचीत करते हुए पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ के हनुमान चालीसा करने पर तंज कसा है। उन्होंने कहा कि जान न जाए निशाचर माया, काल नेम केही कारण आया, उब रहे अंत न होए निभाउ। क्या राम भक्तों को इतना नासमझ रहे हैं। क्या एक तरफ सुंदरकांड हो और दूसरी तरफ कांग्रेस का लंका कांड की तरह ढहाने का कांड हो। मंत्री मिश्रा ने कहा कि जिस पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी ने एक शब्द नही बोला है, वो पार्टी श्रेय कैसे लेना चाह रही है, एक व्यक्ति तिथि टालने की बात कर रहा है, एक सुंदरकांड कर रहा है। राम भक्त इतने नासमझ नहीं है कि तुष्टिकरण की राजनीति को न समझ पाए। कांग्रेस की पूरी पार्टी को राम मंदिर पर एक लाइन होकर कुछ बोलना चाहिए। मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि भाजपा के एजंडे में था, राम मंदिर। हमने सौगंध खाई थी कि राम मंदिर वहीं बनाएंगे, बना रहे हैं। कांग्रेस के पूर्व और वर्तमान अध्यक्ष अपनी नीति स्पष्ट करें।   लॉकडाउन अनंतकाल तक संभव नहीराजधानी भोपाल में लगा 10 दिन का लॉकडाउन आज मंगलवार से समाप्त हो गया है। हालांकि रात्रि कफ्यू जारी रहेगा। दस दिन बाद भोपाल अनलॉक पर  गृहमंत्री मिश्रा ने कहा कि तेरा तुझ को अर्पण क्या लागे मेरा, हमने जनता के हवाले सब छोड़ दिया है वो सावधानी बरतें। सरकार ऑक्सीजन, वेंटिलेटर ओर दवाई फ्री दे रही है, जनता कोशिश करें ये फ्री इलाज की जरूरत न पड़े। उन्होंने कहा कि लॉकडाउन का असर जरूर होता है। इससे हर जगह कोरोना संक्रमण के मामलों में कमी आई है। लेकिन इसे अनंतकाल तक नहीं रखा जा सकता। इससे आम आदमी की रोजी-रोटी प्रभावित होती है। इसलिए सभी से विनती है कि अब अनलॉक में पूरी सावधानी बरतें।

Dakhal News

Dakhal News 4 August 2020


bhopal, Third corona report ,CM Shivraj , also positive, stay in hospital now

भोपाल। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की तीसरी कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। इसके बाद अभी सीएम शिवराज को कुछ दिन ओर अस्पताल में रहना होगा। इसके पहले तक उनका स्वास्थ्य सामान्य होने के कारण छुट्टी मिलने की उम्मीद जताई जा रही थी। सीएम शिवराज ने खुद ट्वीट कर इसकी जानकारी दी थी।   रविवार देर शाम को सीएम शिवराज की कोरोना जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद अब सीएम शिवराज की आज अस्पताल से छुट्टी नहीं होगी। इससे पहले रविवार को सीएम शिवराज ने ट्वीट कर बताया था कि उनका अस्पताल में नौंवा दिन है। वे स्वस्थ हैं और कोरोना के लक्षण नहीं दिख रहे हैं। सोमवार को उन्हें छुट्टी मिल जाएगी। लेकिन रविवार देर शाम को रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद अब सीएम शिवराज को एक सप्ताह और अस्पताल में रुकना पड़ सकता है।    बता दें कि सीएम शिवराज को कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के बाद राजधानी के चिरायु अस्पताल में भर्ती कराया गया था। इसके अलावा पार्टी के कई नेताओं का इलाज भी जारी है। सीएम शिवराज के बाद बाद भाजपा प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा भी पॉजिटिव पाए गए हैं, वहीं मंत्री तुलसी सिलावट भी कोरोना संक्रमित हुए हैं, भाजपा के संगठन महामंत्री सुहास भगत भी कोरोना संक्रमित पाए गए हैं।

Dakhal News

Dakhal News 3 August 2020


bhopal,Digvijay ,again raised ,question about , Muhurta

भोपाल। अयोध्या में राम मंदिर निर्माण को लेकर पूजा पाठ और अनुष्ठान का दौर शुरू हो गया है। बुधवार को पीएम मोदी मंदिर का शिलान्यास कार्यक्रम में हिस्सा लेंगे। राम मंदिर शिलान्यास की तारीख नजदीक आ गई है लेकिन उस पर राजनीति अभी खत्म नहीं हुई है। मप्र के पूर्व सीएम और कांग्रेस सांसद दिग्विजय सिंह लगातार राम मंदिर निर्माण के मुहूर्त पर सवाल उठा रहे हैं और भाजपा पर निशाना साध रहे हैं।   दिग्विजय सिंह ने सोमवार को एक बार फिर लगातार एक के बाद एक कई ट्वीट कर मंदिर निर्माण मुहूर्त पर सवाल उठाए हैं। उन्होंने यह तक कह डाला कि अशुभ मुहूर्त के कारण राम मंदिर के मुख्य पुजारी से लेकर देश के गृहमंत्री अमित शाह तक कोरोना पॉजिटिव हो गए हैं। दिग्विजय ने प्रधानमंत्री मोदी से 5 अगस्त के मुहूर्त को टालने की मांग की है। उन्होंने ट्वीट कर कहा ‘सनातन हिंदू धर्म की मान्यताओं को नजऱ अंदाज करने का नतीजा।  1- राम मंदिर के समस्त पुजारी कोरोना पॉजिटिव 2- उत्तर प्रदेश की मंत्री कमला रानी वरुण का कोरोना से स्वर्गवास3- उत्तर प्रदेश के भाजपा अध्यक्ष कोरोना पॉजिटिव अस्पताल में।4- भारत के गृह मंत्री अमित शाह कोरोना पॉजिटिव अस्पताल में। 5- मध्यप्रदेश के भाजपा के मुख्यमंत्री व भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष कोरोना पॉजिटिव अस्पताल में 6- कर्नाटक के भाजपा के मुख्यमंत्री कोरोना पॉजिटिव अस्पताल में।भगवान राम करोड़ों हिंदुओं के आस्था के केंद्र हैं और हज़ारों वर्षों की हमारे धर्म की स्थापित मान्यताओं के साथ खिलवाड़ मत करिए।   उप्र के मुख्यमंत्री और प्रधानमंत्री को एकांतवास होना चाहिए?एक अन्य ट्वीट कर उन्होंने कहा ‘मैं मोदी जी से फिर अनुरोध करता हूँ 5 अगस्त के अशुभ मुहुर्त को टाल दीजिए। सैंकड़ों वर्षों के संघर्ष के बाद भगवान राम मंदिर निर्माण का योग आया है अपनी हठधर्मीता से इसमें विघ्न पडऩे से रोकिए। इन हालातों में क्या उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री और भारत के प्रधानमंत्री को एकांतवास नहीं होना चाहिए? क्या एकांतवास में जाने की बाध्यता केवल आम जनता के लिए है? प्रधानमंत्री मुख्यमंत्री के लिए नहीं है? एकांतवास की समय सीमा 14 दिवस की है।   अब एक और प्रश्न उपस्थित होता है। उत्तर प्रदेश की मंत्री की कोरोना से मौत हो गयी। उत्तर प्रदेश के भाजपा अध्यक्ष कोरोना पॉजिटिव, भारत के गृहमंत्री कोरोना पॉजिटिव। मोदी जी आप अशुभ मुहुर्त में भगवान राम मंदिर का शिलान्यास कर और कितने लोगों को अस्पताल भिजवाना चाहते हैं? योगी जी आप ही मोदी जी को समझाइए। आपके रहते हुए सनातन धर्म की सारी मर्यादाओं को क्यो तोड़ा जा रहा है? और आपकी क्या मजबूरी है जो आप यह सब होने दे रहे हैं? 5 अगस्त को भगवान राम के मंदिर शिलान्यास के अशुभ मुहुर्त के बारे में विस्तार से जगदगुरू स्वामी स्वरूपानंद जी महाराज ने सचेत किया था। मोदी जी की सुविधा पर यह अशुभ मुहुर्त निकाला गया।यानि मोदी जी हिंदू धर्म की हजारो वर्षों की स्थापित मान्यताओं से बड़े हैं!! क्या यही हिंदुत्व है?

Dakhal News

Dakhal News 3 August 2020


Ayodhya, BJP leader ,Uma Bharti ,not join, worship program

अयोध्या। श्रीराम जन्मभूमि पर मंदिर निर्माण के लिए 5 अगस्त को भूमि पूजन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी करेंगे। इस पूजन कार्यक्रम में 200 से अधिक हस्तियां मौजूद रहेंगी। जिसमे वरिष्ठ भाजपा नेत्री उमा भारती को भी भाजपा पूजन कार्यक्रम में नहीं शामिल होंगी उमा भारती, ट्रस्ट को दी जानकारी, उमा भारती अयोध्या तो आएंगी पर भूमि पूजन कार्यक्रम स्थल पर न रहकर सरयू किनारे रहेंगी। ट्वीट कर दी जानकारी, उमा भारती कल अयोध्या पहुंचेंगी। कहा कि मेरी किसी  कोरोना संक्रमित व्यक्ति से मुलाकात हो सकती हैं ऐसी स्थिति में जहां पीएम और सैकड़ों लोग मौजूद होंगे वहां से मैं दूरी बनाकर रखूंगी।  सभी के चले जाने के बाद ही मैं रामलला के दर्शन करने जाऊंगी। उन्होंने कहा कि मोदी के शिलान्यास कार्यक्रम के समय उपस्थित समूह की सूची में से मेरा नाम अलग कर दें।  भाजपा की वरिष्ठ नेता ने ट्वीट कर कहा, “कल जब से मैंने अमित शाह जी तथा यूपी भाजपा के नेताओं के कोरोना पॉजिटिव होने के बारे में सुना तभी से मैं अयोध्या में मंदिर के शिलान्यास में उपस्थित लोगों के लिए खासकर नरेंद्र मोदी जी के लिए चिंतित हूं। यह सूचना मैंने रामजन्मभूमि न्यास के वरिष्ठ अधिकारियों और पीएमओ को सूचना भेजा है कि माननीय नरेन्द्र मोदी के शिलान्यास कार्यक्रम के समय उपस्थित समूह के सूची में से मेरा नाम अलग कर दे। उन्होंने कहा मै भोपाल से आज रवाना होऊंगी। कल शाम अयोध्या पहुंचने तक मेरी किसी संक्रमित व्यक्ति से मुलाकात हो सकती हैं ऐसी स्थिति में जहां नरेंद्र मोदी और सैकड़ों लोग उपस्थित हों मैं उस स्थान से दूरी रखूंगी। तथा नरेंद्र मोदी और सभी समूह के चले जाने के बाद ही मै रामलला के दर्शन करने पहुंचूंगी। यह सूचना मैंने अयोध्या में रामजन्मभूमिन्यास के वरिष्ठ अधिकारी और पीएमओ को भेज दी है।

Dakhal News

Dakhal News 3 August 2020


bhopal, Digvijay Singh ,once again ,raised questions ,foundation stone, Ram temple

भोपाल। कोरोना संकट के बीच देश में राममंदिर निर्माण की तैयारियां जोरों पर है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 5 अगस्त को अयोध्या में राम मंदिर का भूमि पूजन करेंगे। अयोध्या में राम मंदिर निर्माण पर जारी सियासत की आंच मध्य प्रदेश तक देखी जा सकती है। मध्य प्रदेश में राम मंदिर के शिलान्यास को लेकर सियासत गरमा गई है। पूर्व सीएम और दिग्विजय सिंह ने एक बार फिर राम मंदिर शिलान्यास की तारीख पर सवाल उठाए हैं।   पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह ने ट्वीट कर राम मंदिर निर्माण की तारीख पर सवाल उठाते हुए धार्मिक भावनाओं और मान्यताओं के साथ खिलवाड़ का आरोप लगाया है। उन्होंने ट्वीट कर कहा ‘रामहि केवल प्रेमु पिआरा। जानि लेउ जो जान निहारा॥ भावार्थ:-श्री रामचन्द्रजी को केवल प्रेम प्यारा है, जो जानने वाला हो (जानना चाहता हो), वह जान ले। हमारी आस्था के केंद्र भगवान राम ही हैं! और आज समूचा देश भी राम भरोसे ही चल रहा है। इसीलिए हम सबकी आकांक्षा है कि जल्द से जल्द एक भव्य मंदिर अयोध्या राम जन्म भूमि पर बने और राम लला वहां विराजें। स्व. राजीव गांधी जी भी यही चाहते थे। रही बात मुहूर्त की, तो इस देश में 90 प्रतिशत से भी ज्यादा हिन्दू ऐसे होंगे जो मुहूर्त, ग्रह दशा, ज्योतिष, चौघडिय़ा आदि धार्मिक विज्ञान को मानते हैं। मैं तटस्थ हूँ इस बात पर कि 5 अगस्त को शिलान्यास का कोई मुहूर्त नही है ये सीधे-सीधे धार्मिक भावनाओं और मान्यताओं से खिलवाड़ है।   गौरतलब है कि यह पहला मौका नहीं है जब दिग्विजय सिंह ने राममंदिर के मुख्य पुजारी समेत 14 लोगों के कोरोना पॉजिटिव आने पर कमेंट्स किया था। उन्होंने कहा था कि अब बताओ मुहूर्त सही है या गलत? अब बताओ शंकराचार्य स्वरूपानंद सरस्वतीजी सही हैं या गलत? इससे पहले स्वरूपानंद ने 5 अगस्त को कोई मुहूर्त नहीं होने पर सवाल खड़े किए थे। इसके बाद दिग्विजय ने भी इसी बात को दोहराया था। इसके अलावा उन्होंने पीएम मोदी के शिलान्यास किए जाने पर भी आपत्ति जताते हुए एक अन्य ट्वीट कर कहा था कि सनातन धर्म को मानने वाले लोगों को पीएम मोदी के राम मंदिर के शिलान्यास से अपत्ति है, क्योंकि मोदी जी ने शिलान्यास के लिए किसी भी प्रमाणित शंकराचार्य और रामानन्दी सम्प्रदाय के धर्म गुरू को स्थान नहीं दिया है।

Dakhal News

Dakhal News 1 August 2020


bhopal, Uma Bharti , Jaibhan Singh Powaiya, get invitation, Ram temple foundation stone

भोपाल। अयोध्या में पांच अगस्त को बहुप्रतिक्षित राम मंदिर निर्माण का शिलान्यास होना है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी स्वयं इसका शिलान्यास करेंगे। राम मंदिर निर्माण के लिए भूमि पूजन की तिथि करीब आ गई है। भूमि पूजन में कोरोना के चलते देश के चुनिंदा लोग ही शामिल हो रहे हैं। भूमिपूजन में शामिल होने वाले अतिथियों की लिस्ट को भी अंतिम रूप दिया जा चुका है। मध्य प्रदेश से यह मौका भाजपा के दो फायर ब्रांड नेताओं को ही मिला है। पहली हैं प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती और दूसरे हैं पूर्व मंत्री जयभान सिंह पवैया। दोनों ही नेता रामजन्म भूमि आंदोलन से लंबे समय से जुड़े हुए हैं। यही कारण है कि इन दोनों नेताओं को आमंत्रण आया है।   मंदिर आंदोलन का प्रमुख चेहरा रहीं पूर्व केंद्रीय मंत्री और भारतीय जनता पार्टी की राष्ट्रीय उपाध्यक्ष साध्वी उमा भारती भी 5 अगस्त को भूमि पूजन में शामिल होंगी। दोनों को रामजन्म भूमि न्यास ने भूमि पूजन कार्यक्रम में शामिल होने के निर्देश दिए हैं। उमा भारती ने ट्वीट कर इसकी जानकारी दी है। उन्होंने ट्वीट कर कहा ‘मैं एक समाचार आप सबके साथ शेयर कर रही हूं जिसे जानने के लिए आप सब उत्सुक थे। मुझे अभी अयोध्या जी के राम जन्मभूमि न्यास के वरिष्ठ पदाधिकारी ने निर्देश दिया है कि मैं 4 अगस्त की शाम तक अयोध्या जी पहुंच जाऊं एवं उनके निर्देश के अनुसार मुझे 6 अगस्त तक अयोध्या जी में ही रहना होगा। मैं अभी 30 जून को भी अयोध्या जी गई थी एवं रामलला के दर्शन किए थे, आरती में भाग लिया था। अब मुझे फिर रामलला के दर्शन का मौका मिलेगा। गौरतलब है कि दोनों ही नेता रामजन्म भूमि आंदोलन से लंबे समय से जुड़े हुए हैं। न्यास ने जो संदेश दोनों नेताओं को भेजा है, उसमें कहा गया है कि 4 अगस्त की शाम तक अयोध्या पहुंच जाएं और 6 अगस्त की शाम तक वहीं रहें।

Dakhal News

Dakhal News 1 August 2020


bhopal, Change in construction  Ram temple

ग्वालियर/ भोपाल। अयोध्या में राम मंदिन निर्माण की तारीख नजदीक आ गई है। सभी बाधाओं को दूर कर आखिरकार 5 अगस्त को भूमिपूजन होने जा रहा है। इसके बावजूद मंदिर पर अभी भी राजनीति खत्म नहीं हो रही। लगातार मंदिर निर्माण पर सवाल खड़े करने वाली कांग्रेस के नेताओं के अचानक मंदिर निर्माण को लेकर सुर बदल गए हैं जिसका प्रखर हिंदूवादी भाजपा नेता पूर्व मंत्री जय भान सिंह पवैया ने करारा जवाब दिया है। दरअसल लंबे समय तक वामपंथी और कांग्रेसी राम मंदिर निर्माण पर सवाल उठाते रहे और बाबरी मस्जिद के पक्ष में बोलते रहे। लेकिन अब जबकि रास्ते बंद हो गए तो इन लोगों ने मंदिर के भूमिपूजन के मुहूर्त तक पर पिछले दिनों सवाल खड़े कर दिये। लेकिन अब अचानक कांग्रेस के सुर बदल गए हैं और उनके नेता मंदिर निर्माण के समर्थन में उतर आये हैं। प्रदेश कांग्रेस के दो पूर्व सीएम कमलनाथ और दिग्विजय सिंह दोनों ही राजनेताओं ने मंदिर निर्माण के समर्थन में ट्वीट किये। जिस पर बाबरी मस्जिद ढांचा गिराने वाले अभियान में शामिल रहे, राम मंदिर निर्माण के लिए संघर्श करने वाले प्रखर हिंदू वादी नेता एवं भाजपा के पूर्व मंत्री जयभान सिंह पवैया ने पलटवार करते हुए ट्वीट कर करारा जवाब दिया है। पवैया ने अपने ट्वीट में लिखा " श्री राम मंदिर निर्माण के लिए कांग्रेसियों का समर्थन या विरोध का अब मायना ही क्या है। फैसला आने के पहले इनमें से कौन ऐसा माई का लाल है जिसने राम मंदिर गर्भ गृह पर ही बनने का दावा किया हो। आतंकियों के वध पर रोने वाले आप कार सेवकों के बलिदान पर एक शब्द भी नहीं बोले थे।" गौरतलब है कि कमलनाथ ने ट्वीट कर कहा था "मैं अयोध्या में राम मंदिर निर्माण का स्वागत करता हूँ। देशवासियों को इसकी बहुत दिनों से अपेक्षा और आकांक्षा थी। राम मंदिर का निर्माण हर भारतवासी की सहमति से हो रहा है,ये सिर्फ भारत में ही संभव है।  

Dakhal News

Dakhal News 1 August 2020


bhopal, CM Shivraj, decided to pay, 30 percent salary, Kovid aid fund

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश में कोरोना संक्रमण रोकने के लिए हर संभव प्रयास किए जा रहे हैं तथा कोरोना मरीजों को नि:शुल्क एवं सर्वोत्तम इलाज की व्यवस्था की गई है। इसके चलते हमने कोरोना पर काफी हद तक नियंत्रण पा लिया है, और हम शीघ्र ही कोरोना को पूर्ण रूप से परास्त कर देंगे। परंतु इस कार्य में राज्य के बजट का एक बड़ा हिस्सा व्यय हुआ है तथा आगे भी राशि की जरूरत होगी। हम सबका दायित्व है कि हम शासन के अनावश्यक खर्चों में कटौती करें वहीं व्यक्तिगत रूप से जो भी सहायता कर सकें करें। उक्‍त बातें मुख्‍यमंत्री चौहान ने शुक्रवार को मंत्रीगणों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से बैठक के दौरान कही।    चौहान ने कहा कि ''मैंने निर्णय लिया है कि मैं मुख्यमंत्री का पद ग्रहण करने के दिनांक से आगामी 30 सितंबर तक अपने वेतन एवं भत्तों की 30 प्रतिशत राशि कोरोना कार्य के लिए मुख्यमंत्री राहत कोष में जमा कराऊंगा। अभी तक मेरे द्वारा पहले 3 महीनों की राशि एक लाख 40 हजार रूपये जमा करा दी गई है। मेरे मंत्रिमंडल के साथी भी यह कार्य कर सकते हैं। हमें अब जनता के सक्रिय सहयोग से कोरोना को पूर्ण रूप से परास्त करना है। इसके लिए मध्यप्रदेश में आगामी 1 अगस्त से ''संकल्प की चेन जोड़ो, संक्रमण की चेन तोड़ो'' अभियान चलाया जाएगा।   मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि विधायकगण अपनी विधायक निधि का उपयोग अपने क्षेत्र में कोरोना नियंत्रण संबंधी कार्यों जैसे मेडिकल स्टाफ के लिए आवश्यक उपकरण, फेस मास्क, थर्मामीटर, पीपीई किट्स, टेस्टिंग किट, वेंटिलेटर, सैनिटाइजर क्रय आदि के लिए करें। इसी के साथ प्रदेश के 22 जिलों में जिला खनिज निधि में आने वाली प्रतिवर्ष लगभग 500 करोड़ रूपये की राशि की एक तिहाई राशि इन जिलों में कोरोना संबंधी कार्यों और गरीबों के लिए रोजगार मूलक कार्यों में खर्च की जा सकेगी। संबंधित जिले के प्रभारी मंत्री के अनुमोदन से यह राशि स्वीकृत की जाएगी। मंत्रीगणों को जिलों के प्रभार अगले सप्ताह तक आवंटित कर दिए जाएंगे।   मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि हमें कोरोना संकट को चुनौती में बदलना है तथा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आत्मनिर्भर भारत के सपने को सबसे पहले मध्य प्रदेश में मूर्त रूप देना है। इसके लिए रोड मैप बनाने की हमारे सभी विभागों ने तेज गति से तैयारी शुरू कर दी है। आगामी 15 अगस्त को आत्मनिर्भर मध्य प्रदेश का रोडमैप प्रदेश की जनता के सामने प्रस्तुत किया जाएगा।   ये होंगे रोडमैप के चार प्रमुख क्षेत्र मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश के रोडमैप के प्रमुख चार क्षेत्र स्वास्थ्य एवं शिक्षा, अर्थव्यवस्था एवं रोजगार, भौतिक अधोसंरचना विकास तथा सुशासन होंगे। यह रोडमैप भारत सरकार के नीति आयोग के सहयोग से आगामी 3 वर्षों के लिए तैयार किया जा रहा है। इसे बनाने के लिए अपर मुख्य सचिव स्तर के चार वरिष्ठ अधिकारियों के नेतृत्व में टीमें निरंतर कार्य कर रही हैं।   विशेषज्ञों के सुझावों के लिए वेबीनार्स मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि रोड मैप में विषय विशेषज्ञों के सुझाव सम्मिलित करने के लिए आगामी 7, 8, 10 एवं 11 अगस्त को प्रातः 11 से 2 एवं अपराह्न 3 से 6 बजे तक वेबीनार आयोजित की जाएंगी। इन वेबीनार में विषय-विशेषज्ञों के साथ ही जनप्रतिनिधि, शिक्षाविद, जिला स्तर के अधिकारी भाग लेंगे। भारत सरकार के नीति आयोग के प्रतिनिधि भी इनमें शामिल होंगे।   बिना लॉक डाउन के पूरी सावधानी व सतर्कता से कोरोना को हराना है मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि आप सभी के प्रयास एवं जनता के सहयोग का ही परिणाम है कि आज हमारी कोरोना रिकवरी रेट 70 प्रतिशत है तथा मृत्यु दर घटकर 2.7 प्रतिशत रह गई है। परन्तु अभी भी प्रदेश के कई स्थानों पर संक्रमण बढ़ रहा है। लॉकडाउन के कारण अर्थव्यवस्था बुरी तरह प्रभावित हो रही है। अब हमें बिना लॉकडाउन के पूरी सावधानी एवं सतर्कता से कोरोना को हराना है।   हम जैसा आचरण करेंगे, वैसा ही जनता करेगी मुख्यमंत्री चौहान ने मंत्रीगणों से कहा कि हम जनप्रतिनिधि जैसा आचरण करेंगे वैसा ही जनता करेगी। इसलिए यह हमारी जिम्मेदारी है कि हम कोरोना के विरुद्ध लड़ाई में स्वयं सभी सुरक्षात्मक उपायों का प्रयोग करें। सभी अनिवार्य रूप से मास्क लगाएं, फिजिकल डिस्टेंसिंग रखें, सैनिटाइजर का प्रयोग करें, कोई सार्वजनिक दौरा अथवा कार्यक्रम न करें, घर पर भी एक बार में 5 व्यक्तियों से ही मिलें। यदि आपने आगे कार्यक्रम निर्धारित किए हों तो उन्हें वर्चुअल के रूप में परिवर्तित कर दें।   नियम तोड़ने पर जुर्माना एवं प्रकरण दोनों मुख्यमंत्री चौहान ने स्पष्ट रूप से कहा कि कोरोना का संक्रमण रोकने के लिए मास्क एवं फिजिकल डिस्टेंसिंग का पालन किया जाना अनिवार्य है। कोई भी व्यक्ति चाहे वह मुख्यमंत्री हो, मंत्री हो, जन प्रतिनिधि हो, अधिकारी हो अथवा कोई अन्य, यदि नियम तोड़ता है, तो जुर्माना तो लगेगा ही, प्रकरण भी दर्ज किया जाएगा।   वीडियो कॉन्फ्रेसिंग के माध्यम से प्रदेश के सभी मंत्री एवं राज्य मंत्री अलग-अलग स्थानों से ऑनलाइन जुड़े और मुख्यमंत्री चौहान से संवाद भी किया।

Dakhal News

Dakhal News 31 July 2020


bhopal,  prisoners in jails , e-meet, Home Minister, inaugurates ,scheme

भोपाल। मध्यप्रदेश के गृह और जेल मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने शुक्रवार को प्रदेश की जेलों में बंदी-परिजनों की ई-मुलाकात योजना का ई- लोकार्पण किया। उन्होंने बताया कि अब जेलों में बंदी अपने परिजन से ई-मुलाकात कर सकेंगे। परिजनों से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के द्वारा बंदियों से मुलाकात कराई जायेगी। ई-लोकार्पण अवसर पर महानिदेशक जेल संजय चौधरी उपस्थित थे।मंत्री डॉ. मिश्रा ने बताया कि बंदियों को उनके परिजनों से समय-समय पर जेलों में ही मुलाकात कराने का प्रावधान है। वर्तमान में कोविड-19 महामारी के कारण मार्च के द्वितीय सप्ताह से मुलाकात व्यवस्था बंद कर दी गई है। अब बन्दियों के परिजनों को परेशान नहीं होना पड़ेगा। योजना के शुभारंभ अवसर पर चार बन्दियों के परिजनों से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से बात कराई गई।प्रदेश में पहली बार जेल में बंदियों की उनके परिजनों से घर बैठे फेस-टू-फेस बात हुई। इस दौरान माहौल गमगीन हो गया। एक मां अपने बेटा का चेहरा और आवाज सुनते ही रोने लगी। बार-बार बेटे से पूछ रही थी कैसे हो। बेटा भी मां को दिलासा दिलाते हुए कह रहा था- सब ठीक है। गृह मंत्री ने इसे जेलों से ई-मुलाकात का नाम दिया है।जेल डीआईजी संजय पाण्डे ने बताया कि जेलों में परिरूद्ध बंदियों की जानकारी को भारत सरकार के एनआईसी के ई-प्रिजन सॉफ्टवेयर के माध्यम से कम्प्यूटर पर संकलित किया जाता है। इस सॉफ्टवेयर में ई-मुलाकात व्यवस्था का प्रावधान है। ई-मुलाकात व्यवस्था के अंतर्गत बंदियों के परिजन www.e-prisons.nic.in वेबसाईट के माध्यम से मुलाकात करने हेतु आवेदन कर सकते हैं।भोपाल जेल अधीक्षक दिनेश नरगांवे ने बताया कि ई- मुलाकात के आवेदन जेल अधीक्षक द्वारा स्वीकृत होने पर बंदी के परिजन अपने घर से ही एक स्मार्ट फोन/ डेस्कटॉप/ टेब के माध्यम से अथवा किसी एमपी ऑनलाइन सेंटर से, वीडियो कॉफ्रेंसिंग के माध्यम से बंदी से ई-मुलाकात कर उनका वीडियो देख सकेंगे एवं उनसे बात कर सकेंगे।इस व्यवस्था के प्रारंभ होने से कोविड महामारी की इस कठिन परिस्थिति में बंदियों के परिजनों के अपने घर से जेल पर उपस्थित होने की आवश्यकता नहीं होगी। इससे बंदियों को एवं उनके परिजनों को मुलाकात में सुविधा होगी। तात्कालिक लाभ के रूप में बंदियों के तनाव व अवसाद में कमी आयेगी और दीर्घकालिक लाभ के रूप में बंदियों के परिजनों की समय, श्रम एवं आर्थिक बचत होगी।

Dakhal News

Dakhal News 31 July 2020


bhopal, Narottam Mishra,Congress,unsustainable slogan, Digvijay old man

भोपाल। मध्य प्रदेश की सत्ता हाथ से गंवाने के बाद कांग्रेस ने एक बार फिर उपचुनाव से वापसी के लिए जोर लगाना शुरू कर दिया है। प्रदेश की 27 विधानसभा सीटों पर होने वाले उपचुनाव के लिए कांग्रेस ने 'बिकाऊ नहीं, टिकाऊ चाहिए, फिर से कमलनाथ सरकार चाहिए' का नारा दिया है। कांग्रेस ने इस नारे के जरिए सीधे सिंधिया के साथ कांग्रेस छोडक़र भाजपा में जाने वाले विधायकों को निशाने पर लिया है, क्योंकि चुनावी मैदान में उन्हीं बागियों से कांग्रेस का मुकाबला है। कांग्रेस के नारे पर प्रदेश के गृह एवं जेल मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने चुटकी ली है।   गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने शुक्रवार को मीडिया से बातचीत करते हुए कांग्रेस पर निशाना साधा है। उन्होंने कांग्रेस के बिकाऊ नहीं टिकाऊ चाहिए नारे पर चुटकी लेते हुए कहा कि कांग्रेस का यह नया नारा बिल्कुल सच कह रहा है, क्योंकि टिकाऊ तो सिर्फ भाजपा ही है। कांग्रेस तो चला ही नहीं पाते, चाहे मध्यप्रदेश हो या राजस्थान हो। टिकाऊ अगर कोई है तो भाजपा है, दिल्ली में भी टिकी है और यहां भी टिकी है। इसके अलावा कांग्रेस पार्टी में हो रही बंपर भर्तियों को लेकर नरोत्तम मिश्रा ने कांग्रेस पर तंज कसा है। उन्होंने कहा कि, मध्यप्रदेश कांग्रेस पार्टी का संगठन विश्व का सबसे बड़ा संगठन है जिसमे 3700 पदाधिकारी है। उन्होंने कहा अकेले दतिया विधानसभा में ही 10- 5 प्रदेश के महामंत्री हैं एक विधानसभा में। कांग्रेस पर तंज कसते हुए उन्होंने कहा, "जब रात है ऐसी मतवाली तो सुबह का आलम क्या होगा।"   दिग्विजय सिंह को बताया उम्रदराज व्यक्ति राज्यसभा सांसद और पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह के लगातार आ रहे ट्वीट पर नरोत्तम मिश्रा ने व्यंग करते हुए दिग्विजय सिंह को उम्रदराज व्यक्ति बताते हुए कहा कि उम्रदराज व्यक्ति हैं इसलिए ट्विटर पर ही काफी है। दिग्विजय सिंह के ट्वीट का असर भाजपा में तो नहीं, बल्कि अब तो उनकी पार्टी में ही खत्म हो रहा है।   कांग्रेस का डुबाना तय है कांग्रेस कार्यकर्ताओं द्वारा राहुल गांधी को फिर से राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाये जाने की मांग पर नरोत्तम मिश्रा ने सवाल उठाते हुए कहा, क्या कांग्रेस का यही लोकतंत्र है कि एक ही परिवार के राजतन्त्र को बर्दाश्त करते रहें। गृहमंत्री ने कहा, जिस दिन कांग्रेस इससे बाहर निकलने की कोशिश करेगी तो कांग्रेस हाशिए पर जाएगी और इस परिवार के साथ रहने की कोशिश करेगी तो भी हाशिये की तरफ जाएगी। उन्होंने कहा, कांग्रेस का डूबना लगभग तय है।

Dakhal News

Dakhal News 31 July 2020


bhopal, BJP state president, VD Sharma , admitted , Corona positive

भोपाल। मप्र भाजपा प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा भी कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। बुधवार देर शाम उनकी जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। जिसके बाद उन्हें इलाज के लिए चिरायु अस्पताल में भर्ती कराया गया है। वीडी शर्मा, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, मंत्री अरविंद भदौरिया और संगठन मंत्री सुहास भगत के साथ स्व. लालजी टंडन को श्रद्धांजलि देने लखनऊ गए थे। इससे पहले तीनों नेता कोरोना पॉजिटिव हो चुके थे और अब वीडी शर्मा भी कोरोना पॉजिटिव पाए गए है।   प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा की यह तीसरी जांच रिपोर्ट थी जो पॉजिटिव आई है। इससे पहले की दो रिपोर्ट निगेटिव आई थी। भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष विष्णु दत्त शर्मा ने बताया कि बुधवार सुबह हल्का सा बुखार होने की वजह से उन्होंने तीसरी बार कोरोना टेस्ट कराया था, जिसकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। इसके बाद वे इलाज के लिए चिरायु हॉस्पिटल में भर्ती हुए हैं। उन्होंने पार्टी कार्यकर्ताओं से अपील की है कि वे स्वस्थ हैं और कार्यकर्ता उनसे मिलने के लिए हॉस्पिटल ना आएं और सभी पार्टी नेता, विधायक व कार्यकर्ता जो पिछले दिनों में भोपाल पार्टी दफ्तर पहुंचे हैं, मुझसे मिले हैं या किसी कार्यक्रम में शामिल हुए, वे जांच कराने के बाद ही जनता के बीच जाएं।    इसके पहले मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, प्रदेश संगठन महामंत्री सुहास भगत और कैबिनेट मंत्री अरविंद भदौरिया की रिपोर्ट भी पॉजिटिव आई थी। इन तीनों का इलाज कोविड सेंटर चिरायु अस्पताल में चल रहा है। एक दिन पहले ही संगठन मंत्री सुहास भगत की भी दूसरी कोरोना जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी। प्रदेश सरकार में संसाधन मंत्री तुलसी सिलावट और राज्य मंत्री रामखेलावन पटेल कोरोना पॉजिटिव मिले हैं।    सीएम शिवराज ने की स्वस्थ होने की कामनाभाजपा प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा के कोरोना पॉजिटिव होने की सूचना मिलने के बाद सीएम शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट कर उनके जल्द स्वस्थ होने की कामना की है। उन्होंने ट्वीट कर कहा ‘प्रदेश अध्यक्ष एवं खजुराहो सांसद वीडी शर्मा के अस्वस्थ होने की सूचना प्राप्त हुई। ईश्वर उन्हें जल्द ही पूर्ण स्वस्थ करें, मेरी यही प्रार्थना है।

Dakhal News

Dakhal News 30 July 2020


bhopal, CM Shivraj , allowed , reduce budget, prevention ,treatment, Corona

भोपाल। मध्यप्रदेश में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान स्वयं कोरोना संक्रमित हो गए हैं और चिरायु अस्पताल में भर्ती होकर अपना उपचार करा रहे हैं। वहीं, विपक्षी पार्टी कांग्रेस लगातार उनके चिरायु अस्पताल में भर्ती होने और अन्य मरीजों को ठीक से उपचार नहीं मिलने को लेकर सवाल उठा रही है। यहां तक कि विभागों के बजट में कटौती को लेकर भी कांग्रेस के नेता शिवराज सरकार का घेराव कर रहे हैं। इसी बीच मुख्यमंत्री ने विपक्ष के सवालों का जवाब सोशल मीडिया के माध्यम से दिया है। उन्होंने कहा है कि प्रदेश में जनता की स्वास्थ्य रक्षा के लिए हम हर संभव कदम उठाएंगे। कोरोना से बचाव और उपचार में बजट की कोई कमी नहीं आने दी जाएगी।मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने गुरुवार सुबह ट्वीट कर कहा है कि -‘ वित्तीय संकट के चलते दूसरे मदों में बजट की कुछ कमी की जा सकती है, लेकिन कोरोना से बचाव एवं उपचार में बजट की कोई कमी नहीं आने दी जाएगी। प्रदेश में जनता की स्वास्थ्य रक्षा के लिए हम हर संभव कदम उठाएंगे।’ उन्होंने दूसरे ट्वीट में लिखा है कि - ‘हमें प्रदेश की अर्थव्यवस्था को गतिमान भी करना है। इसके लिए पूरी तरह जनता को कोविड-19 के संबंध में जागरूक करना होगा तथा सर्वोत्तम उपचार व्यवस्था सुनिश्चित करनी होगी। प्रदेश में कोरोना की भावी रणनीति ‘लॉकडाउन माइनस’ होना चाहिए। अर्थात ऐसी रणनीति बनाई जाए जिसमें बिना लॉक डाउन किए कोरोना पर प्रभावी नियंत्रण किया जा सके।’

Dakhal News

Dakhal News 30 July 2020


bhopal, Woman ,set herself , fire , protest against ,encroachment

भोपाल। मध्यप्रदेश के देवास जिले में सतवास थाना क्षेत्र के अतवास गांव में दो दिन पहले यानी बीते मंगलवार को राजस्व विभाग और पुलिस की संयुक्त टीम शासकीय जमीन से अतिक्रमण हटाने के लिए पहुंची थी। इस दौरान गांव के लोगों ने टीम पर हमला कर दिया। इस दौरान खड़ी फसल पर जेसीबी चलते देखकर एक महिला ने कार्रवाई रुकवाने के लिए पेट्रोल डालकर खुद को आग लगा दी। इस मामले का गुरुवार सुबह सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल होने के बाद प्रदेश की राजनीति गरमा गई है। कांग्रेस नेताओं ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान पर निशाना साधा है।पूर्व मुख्यमंत्री और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने गुरुवार को ट्वीट के माध्यम से मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान पर निशाना साधते हुए उन्होंने महिला के आग में जलते हुए वीडियो पोस्ट किया है। साथ ही लिखा है कि -‘बेहद दुखद तस्वीर-जो खुद को मामा कहलवाते हैं, उनके राज में आज एक बहन खुद को आग के हवाले कर रही हैं। देवास जिले के सतवास में खड़ी फसल पर जेसीबी चलवाने का विरोध करते हुए एक बेबस महिला ने खुद को आग के हवाले कर दिया।’ उन्होंने अगले ट्वीट में लिखा है कि-‘मैं सरकार से मांग करता हूं कि पूरे मामले की जांच करवाकर दोषियों पर कड़ी से कड़ी कार्यवाही हो, घायल महिला का संपूर्ण इलाज सरकार करवाये, पीडि़त परिवार की हर संभव मदद हो।’ वहीं, पूर्व केन्द्रीय मंत्री और कांग्रेस के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अरुण यादव ने ट्वीट किया है कि - ‘देवास जिले के सतवास की घटना जहां प्रशासन ने किसान की खड़ी फसल पर जेसीबी चला दी, जिसकी वजह से किसान की पत्नी ने आत्मघाती कदम उठाते हुए स्वयं को आग के हवाले कर दिया। शिवराज सिंह जी खड़ी फसल पर जेसीबी चलाना कहाँ का न्याय है?’ इसके अलावा मप्र कांग्रेस के आधिकारिक ट्विटर पर ट्वीट किया गया है कि - ‘शिवराज का जंगलराज, सरकार की प्रताडऩा से तंग आकर आग लगाई, देवास जिले के सतवास में खड़ी फसल पर जेसीबी चलवाने के शिवराज के फैसले का विरोध करते हुये एक बेबस महिला ने खुद को आग के हवाले कर दिया। शिवराज जी, महामारी और मौत के बीच तो कम से कम जनता को मत मारो..! "शवराज चरम पर है"यह है मामलादरअसल, देवास के सतवास थाना क्षेत्र के समीपस्थ ग्राम अतवास में बीते मंगलवार को शासकीय भूमि पर अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई के दौरान एक महिला ने खुद को आग लगाकर आत्मदाह का प्रयास भी किया। इससे वह करीब 20 प्रतिशत झुलस गई। उसे इलाज के लिए इंदौर भेजा गया है। इस दौरान राजस्व और पुलिस विभाग की टीम पर 20 से अधिक ग्रामीणों ने हमला कर दिया। इसमें पटवारी किशोर चावरे के कान में गंभीर चोट पहुंची, जिससे उन्हें सुनाई देना बंद हो गया। राजस्व निरीक्षक राजेंद्र धुर्वे व पटवारी दिलीप जाट को भी चोट पहुंची। मामले में पुलिस ने मंगलवार देर रात 11 बजे शासकीय कार्य में बाधा, बलवा सहित अन्य धाराओं में केस दर्ज किया। बताया गया है कि फरियादी किशोर चावरे की शिकायत पर आरोपित छोटा, रमजान खां, शरीफ खांन, शेर खां, हबीब खां, मोइन खां, शहीद खां, सफदर खां, हमीद खां, अनीसा बी, साबरा बी के खिलाफ विभिन्न धाराओं के तहत प्रकरण दर्ज किया गया है। बुधवार को पटवारी संघ ने आरोपितों की गिरफ्तारी की मांग करते हुए जिलाधीश के नाम तहसीलदार प्रियंका चौरसिया को ज्ञापन भी सौंपा है। इस मामले का गुरुवार सुबह सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल हुआ, जिसमें महिला को आग लगाते हुए दिखाया गया है। इसके बाद कांग्रेस हमलावर हो गई है। कांग्रेस ने शिवराज सरकार को महिला के आग लगाने पर घेरा है, लेकिन अतिक्रमण और पुलिस व राजस्व टीम पर हमले को लेकर कुछ भी नहीं कहा है।

Dakhal News

Dakhal News 30 July 2020


bhopal,  Home Minister , direct target, Congress and Digvijay

भोपाल। मध्य प्रदेश के सियासी गलियारों में इन दिनों दल बदल कानून को लेकर घमासान मचा हुआ है। मप्र के पूर्व सीएम और वरिष्ठ कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को पत्र लिखकर दल बदल कानून में संशोधन की मांग की है। दिग्विजय के पत्र पर प्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने उन्हें आड़े हाथों लेते हुए जमकर निशाना साधा है। उन्होंने कहा है कि दलबदल के कानून की अच्छी जानकरी कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष दे देंगे क्योंकि उन्होंने कई नेताओं का दलबदल करवाया है।   गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने बुधवार को मीडिया से बातचीत करते हुए देश में दलबदल कानून को लेकर दिग्विजय सिंह की चि_ी पर जमकर बरसे। नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि दलबदल पर कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष बेहतर बता पाएंगे। देश में सर्वाधिक लोगों को दलबदल कांग्रेस सरकार ने करवाया। इसकी सूची वो दे या हम दे दें। उन्होंने तंज कसते हुए कहा कि सर्वाधिक सरकार कांग्रेस ने दलबदल से गिराई है। कांग्रेस क्यों पीएम मोदी को, अमित शाह को और संघ प्रमुख को या राष्ट्रीय अध्यक्ष को पत्र लिखते है। पहले आप अपने पार्टी के भीतर लिखो, वहा संतुष्ट न हो तो कही और लिखो। आखिर में हम ही आप का मार्गदर्शन करें क्या।   राफेल की गर्जना से गूंजेगा आसमानवहीं आज राफेल विमानों के देश आने पर मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि हिंदुस्तान का आसमान राफेल की गर्जना से गूँजेगा और देश का सर सम्मान से बढ़ेगा। उन्होंने तंज कसते हुए कहा कि राफेल हिंदुस्तान आने के बाद तीन जगह मातम होगा। पहला चीन, दूसरा पाकिस्तान और तीसरे वो लोग जो राफेल के खिलाफ ट्वीट करके रो रहे हैं उनके यहां राफेल आने का मातम होगा। जो लोग सेना का मनोबल गिरा रहे हैं, पुलिस का मनोबल गिराते है। इन लोगों को दूसरे देश की नागरिकता लेना चाहिए। कांग्रेस लगातार राफेल को लेकर एक झूठ बोलने की कोशिश में लगी है जबकि राफेल को लेकर तमाम न्यायिक रिपोर्ट आ चुकी है।   कांग्रेस में मुखिया को लेकर हो रही खींचतान पर ली चुटकी कांग्रेस में मुखिया को लेकर हो रही खींचतान पर नरोत्तम मिश्रा ने चुटकी लेते हुए कहा कि ‘ये किसको फिकर थी कि कबिले का क्या होगा, सब इस पर लड़ रहे हैं कि सरदार कौन होगा। उन्होंने कहा कि प्रदेश में नेतृत्व के सवाल पर अंतर्कलह और ट्विवटर-पोस्टरवार में उलझी कांग्रेस अपने गिरेबां में झांकने के बजाय भाजपा पर आरोप लगा रही है। कमलनाथ जी यह क्यों नहीं समझते कि कांग्रेस में जिस बयान पर बवाल मचा है वो भाजपा के किसी नेता ने नहीं बल्कि उनके बेटे नकुलनाथ ने दिया है।   फिलहाल लॉकडाउन बढ़ाने का विचार नहीं राजधानी में बढ़ते कोरोना संक्रमण को लेकर मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि दस दिन के बाद लॉक डाउन पर विचार नही किया जा रहा है। अन्य विकल्प पर विचार किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि मुझे नहीं लगता कि लॉकडाउन की अवधि अब और आगे बढ़ाने की जरूरत पड़ेगी। लॉकडाउन की तारीख आगे बढ़ाने के बजाय सरकार दूसरे विकल्पों पर भी विचार करेगी। जब कोई और विकल्प कारगर नहीं लगेगा तभी लॉकडाउन आगे बढ़ाने के बारे में सोचेंगे। वहीं छतरपुर के कोविड सेंटर में कोरोना संक्रमित युवक द्वारा फांसी लगाने पर मंत्री मिश्रा ने कहा कि युवक घबराया हुआ था, कोरोना संक्रमण को लेकर डरा हुआ था। सरकार कोविड मरीजों की मनोचिकित्सकों से कॉउंसलिंग करवाने पर विचार किया जा रहा है।

Dakhal News

Dakhal News 29 July 2020


bhopal, Then came the discussion, questions raised on Ajay Vishroi tweet

  भोपाल। राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया के साथ उनके समर्थकों की भाजपा में एंट्री के बाद से ही पार्टी के अंदरखानों में सब कुछ ठीक नहीं चल रहा है। भाजपा के कई वरिष्ठ नेता और पूर्व मंत्री प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रुप से अपनी नाराजगी जाहिर कर चुके हैं। वहीं ग्रामीण विधानसभा पाटन से विधायक और पूर्व मंत्री अजय विश्रोई भी कई बार ट्वीट के माध्यम से अपनी नाराजगी जाहिर कर चुके हैं। एक बार फिर अजय विश्रोई का ट्वीट चर्चा में है। हालांकि इस बार उन्होंने संगठन या पार्टी नेताओं पर नहीं बल्कि निजी मेडिकल कॉलेज में कोरोना के ईलाज पर सवाल उठाया है।   भाजपा विधायक अजय विश्रोई ने एक बार फिर ट्वीट कर अपनी ही सरकार को घेरा है। उनके ट्वीट के बाद सियासत गर्मा गई है और भाजपा में हडक़ंप मच गया है। वहीं कांग्रेस ने अजय विश्रोई का समर्थन किया है। दरअसल अजय विश्नोई ने ट्वीट कर चिरायु अस्पताल में सीएम शिवराज और वीआईपी लोगों के ईलाज कराए जाने पर सवाल उठाया है। उन्होंने ट्वीट कर कहा सीएम शिवराज सिंह चौहान चिरायु अस्पताल में स्वास्थ्य का लाभ कर रहे हैं। मेरी शुभकामना है, शीघ्र स्वस्थ होकर वापस लौटें। साथ ही मुख्यमंत्री जी से अनुरोध है, चिरायु अस्पताल में रहते हुए यह भी देखें कि चिरायु में ऐसा क्या है जो हम नो लिमिट बजट और सतत मॉनिटरिंग के बाद भी प्रदेश के एक भी शासकीय मेडिकल कॉलेज 4 माह में नहीं बना पाए। क्यों प्रदेश के सभी वीआईपी चिरायु की शरण में जाने मजबूर हैं। गौरतलब है कि मंत्रिमंडल विस्तार के बाद से ही अजय विश्नोई नाराज बताए जा रहे हैं।   कांग्रेस ने किया समर्थनवहीं भाजपा विधायक अजय विश्रोई के ट्वीट का कांग्रेस ने समर्थन किया है और सीएम से जवाब मांगा है। कांग्रेस नेता नरेन्द्र सलूजा ने अजय विश्रोई के सवालों को सही बताते हुए कहा कि ‘पूर्व मंत्री अजय विश्नोई ने ठीक सवाल उठाया है। क्या कारण है कि सीएम सहित सारे वीआईपी चिरायु में इलाज करवा रहे है, आखिर वहाँ ऐसा क्या है? क्या कारण है कि 15 वर्ष की भाजपा सरकार में एक भी ऐसा शासकीय अस्पताल नहीं बना, कोरोना से इलाज के लिये एक भी शासकीय मेडिकल अस्पताल तैयार नहीं हुआ?   गौरतलब है कि यह पहला मौका नहीं है जब भाजपा विधायक अजय विश्रोई ने अपनी सरकार को घेरा हो। इससे पहले भी मंत्रिमंडल विस्तार से लेकर विभाग बंटवारे तक कई बार उन्होंने ट्वीट कर सवाल उठाए हैं।  

Dakhal News

Dakhal News 29 July 2020


bhopal, Now Chambal Express Way, known as ,Chambal Express Way

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की अध्यक्षता में मंगलवार को देश की पहली वर्चुअल कैबिनेट की बैठक हुई। वीडियो कॉफ्रेंसिंग के माध्यम से हुई मंत्रि-परिषद की बैठक में मंत्रियों ने विभिन्न स्थानों से भागीदारी की। इस बैठक में प्रदेश के हित में कई अहम निर्णय लिये गये।मंत्रि-परिषद की बैठक में 'चंबल एक्सप्रेस-वे' का नाम बदलकर 'चंबल प्रोग्रेस-वे' करने निर्णय लिया गया। साथ ही भारतमाला परियोजना के अन्तर्गत चंबल प्रोग्रेस-वे के निर्माण की स्वीकृति दी गयी। योजना के अन्तर्गत मध्यप्रदेश-राजस्थान सीमा से मुरैना होते हुए भिण्ड जिले तक 309 किलोमीटर की फोरलेन ग्रीन फील्ड सडक़ के निर्माण को अनुमोदन प्रदान किया गया। परियोजना के लिए राज्य सरकार द्वारा नि:शुल्क भूमि उपलब्ध करायी जाएगी। अर्जित की जाने वाली निजी भूमि को यथासंभव शासकीय भूमि से अदला-बदली के माध्यम से किया जायेगा।कोविड संक्रमित व्यक्तियों के इलाज की व्यवस्था का अनुसमर्थनमंत्रि-परिषद ने कोविड संक्रमित व्यक्तियों के इलाज की व्यवस्थाओं का अनुसमर्थन किया, जिसमें जन आरोग्य योजना के तहत भारत सरकार द्वारा निर्धारित पात्रता रखने वाले व्यक्तियों द्वारा मान्यता प्राप्त चिकित्सालयों में कोविड का इलाज कराने पर निर्धारित पैकेज के मान से आयुष्मान भारत निरामय मध्यप्रदेश द्वारा 40 प्रतिशत व्यय भार राज्य वहन करेगा। इसी प्रकार जन आरोग्य योजना के तहत राज्य सरकार द्वारा निर्धारित पात्रता रखने वाले व्यक्तियों द्वारा मान्यता प्राप्त चिकित्सालयों में कोविड का इलाज कराने पर निर्धारित पैकेज के मान से आयुष्मान भारत निरामय मध्यप्रदेश द्वारा शत-प्रतिशत व्यय भार राज्य वहन करेगा। जो व्यक्ति उपरोक्त दोनो श्रणियों में पात्रता नहीं रखते है उनका शासकीय अस्पतालों/ अनुबंधित निजी अस्पतालों में नि:शुल्क इलाज होगा। गैर अनुबंधित अस्पतालों में इलाज स्वयं के व्यय पर करवाया जा सकेगा।कोविड अस्पताल/ कोविड हैल्थ केयर सेंटर के लिए निजी चिकित्सालयों के साथ राज्य स्तरीय समिति की उपसमिति के अनुमोदन के बाद अनुबंध निष्पादन किया जायेगा। अस्पतालों को देय राशि का भुगतान जन आरोग्य योजना के अंतर्गत निर्धारित बेड्स की संख्या के आधार पर होगा। देय राशि का 60 प्रतिशत मासिक स्थाई लागत के रूप में और 40 प्रतिशत परिवर्तनशील लागत के रूप में देय होगा। कोविड अस्पताल/ कोविड हैल्थ केयर सेंटर में जन आरोग्य योजना अंतर्गत भारत सरकार द्वारा निर्धारित पात्रता रखने वाले व्यक्तियों के इलाज पर होने वाले व्यय के 60 प्रतिशत की प्रतिपूर्ति भारत सरकार द्वारा की जायेगी। प्रस्ताव उप समिति द्वारा अनुमोदित किया जायेगा। निजी चिकित्सालयों के साथ अनुबंध 3 माह की अवधि के लिये है और उन्हें आवश्यकता पडऩे पर ही बढ़ाने का प्रावधान होगा।मुख्यमंत्री ग्रामीण पथ विक्रेता ऋण योजना में होगें लगभग 14 करोड़ व्ययमंत्रि-परिषद ने मुख्यमंत्री ग्रामीण पथ विक्रेता ऋण योजना को अनुसमर्थन प्रदान किया। योजना के तहत 18 से 55 वर्ष आयु वर्ग के पात्र व्यक्तियों को व्यवसाय के लिए 10 हजार रुपये तक की कार्यशील पूंजी बैंक से ऋण के रूप से उपलब्ध करायी जायेगी। जुलाई 2020 से मार्च 2022 तक लागू होने वाली इस योजना में एक लाख ग्रामीण गरीबों को लाभांवित करने का लक्ष्य है। योजना से लगभग 14 करोड़ रुपये का वार्षिक वित्तीय भार आएगा।फसल बीमा योजना के लिए 12 हजार 799 करोड़ से अधिक की राशिमंत्रि-परिषद ने प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना को खरीफ 2020-21 से रबी 2020-22 तक लागू किए जाने के प्रस्ताव को कार्योत्तर अनुमोदन प्रदान किया।  योजना में तीन वर्ष के प्रीमियम के लिए राज्य सरकार पर 6494 करोड़ 15 लाख रुपये का वित्तीय भार आएगा। केन्द्र सरकार से योजना में 6305 करोड़ रुपये प्राप्त होने की संभावना है। इस प्रकार योजना 12,799 करोड़ से अधिक की होगी। खुली निविदा के माध्यम से बीमा कंपनी का चयन किया जायेगा ।कैम्पा निधि के अन्तर्गत वार्षिक प्रबंधनमंत्रि-परिषद ने कैम्पा निधि के अन्तर्गत वार्षिक प्रबंधन स्कीम के तहत वर्ष 2020-21 के अनुमोदित कार्य योजना के लिए 833 करोड़ 54 लाख तथा वर्ष 2019-20 के अतिरिक्त अनुमोदित कार्य योजना के लिए राशि रूपये 149 करोड़ 14 लाख रुपये के प्रस्ताव का अनुसमर्थन किया। कैम्पा राशि से वन क्षेत्र में विगत वर्षो के कार्यो के रख-रखाव, बफर क्षेत्र में रहवास का विकास, बिगडे वनों को सुधार, नदियों का पुनर्जीवन, जल संरक्षण के कार्य, गांव की सीमा में वन क्षेत्रों में बांस का रोपण, वन्य प्राणी संरक्षित क्षेत्रों में ग्रामों का स्वैच्छिक विस्थापन, क्षतिपूर्ति वृक्षारोपण, नगर वनों की स्थापना तथा अधोसंरचना सुदृढ़ीकरण संबंधी कार्यों की प्राथमिकता निर्धारित की गयी है।नगर परिषदों संबंधी निर्णयमंत्रि-परिषद ने 21 नगर परिषदों संबंधी अधिसूचना निरस्त कर उन्हें यथावत नगर परिषद रखने के प्रस्ताव को कार्योत्तर अनुमोदन प्रदान किया।

Dakhal News

Dakhal News 28 July 2020


bhopal, After Tiger, MP status ,leopard state, figures released,tiger day

भोपाल। टाइगर स्टेट का दर्जा हासिल करने के बाद अब मप्र को तेंदुआ स्टेट का दर्जा भी मिल सकता है। केंद्रीय पर्यावरण वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्रालय 29 जुलाई को बाघ दिवस के अवसर पर तेंदुओं की गणना के आंकड़े जारी कर सकता है। जिसमें मप्र तेंदुओं की गणना में पहले स्थान पर आ सकता है। आंकड़ों में मध्यप्रदेश में 22 सौ से ज्यादा तेंदुए मिलने की उम्मीद जताई जा रही है।   मप्र वाइल्ड लाइफ मुख्यालय के सूत्रों के मुताबिक दिसंबर 2017 से मार्च 2018 के बीच देशभर में बाघों की गिनती करवाई गई है। इस दौरान तेंदुए भी गिने गए। वर्ष 2018 की गणना में प्रदेश में 22 सौ से ज्यादा तेंदुए मिलने की उम्मीद है। भारतीय वन्यप्राणी प्रबंधन संस्थान देहरादून ने अन्य वन्यप्राणियों की गणना के आंकड़े अलग-अलग कर लिए है। इस संबंध में केंद्रीय वन एवं पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर बाघ दिवस के अवसर पर आंकड़े जारी कर सकते हैं। जिसके बाद प्रदेश को टाइगर स्टेट के बाद तेंदुआ स्टेट का खिताब मिल सकता है। पिछली बार वर्ष 2014 की गणना में प्रदेश में 1817 तेंदुए मिले थे। इसमें कर्नाटक दूसरे नंबर पर था। वहां 1129 तेंदुए मिले थे। वहीं वर्ष 2000 तक प्रदेश में 3600 से ज्यादा तेंदुए थे।   गौरतलब है कि इससे पहले जुलाई 2019 में मध्यप्रदेश को 13 साल के लंबे इंतजार के बाद फिर से टाइगर स्टेट का दर्जा मिला था। ऑल इंडिया टाइगर एस्टीमेशन 2018 की जो रिपोर्ट कि मुताबिक मप्र में टाइगरों की संख्या 526 है। मध्य प्रदेश 526 बाघों के साथ देश में नंबर वन हो गया है। कर्नाटक 524 टाइगर के साथ दूसरे स्थान पर और उत्तरखंड 442 टाइगर के साथ तीसरे नंबर पर रहा।

Dakhal News

Dakhal News 28 July 2020


bhopal, Hospitalized ,CM Shivraj ,making tea , laundry himself

भोपाल। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान कोरोना संक्रमित होने के कारण इन दिनों भोपाल के चिरायु अस्पताल में भर्ती हैं। उनके संपर्क में आए सभी मंत्री भी घरेलू एकांतवास में चले गए हैं। अस्पताल में भर्ती होने के बावजूद सीएम शिवराज सभी सरकारी कार्य पूरी जिम्मेदारी के साथ संभाल रहे हैं। मंगलवार को प्रदेश के इतिहास में पहली बार वर्चुअल कैबिनेट का आयोजन हुआ, जिसमें सभी मंत्री अपने घरों से और सीएम शिवराज अस्पताल से वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए कैबिनेट की बैठक में शामिल हुए।   कैबिनेट बैठक में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि मध्य प्रदेश राज्य एक इतिहास रच रहा है, कैबिनेट के इतिहास में वर्चुअल बैठक पहली बार हो रही है। उन्होंने कहा कि यह हमारे संकल्प का परिचायक है कि परिस्थिति चाहे कोई भी हो, प्रदेश की जनता का काम हम रुकने नहीं देंगे। अगर अस्पताल से भी जरूरत पड़ी तो हम बैठ कर काम करेंगे। ईश्वर हमें शक्ति दें जिससे हम जनता के कार्यों को बेहतर तरीके से कर सके इन्हें संपादित कर सकें ।   कैबिनेट बैठक के दौरान सीएम शिवराज ने अस्पताल के अपने अनुभव भी साझा किए। उन्होंने कहा कि मैं पूरी तरीके से स्वस्थ हूं, मेरी खांसी समाप्ति की तरह है और लगातार काम करने का प्रयास कर रहा हूं। उन्होंने कहा कि अस्पताल में अपनी चाय मैं खुद बना रहा हूं और अपने कपड़े भी खुद धो रहा हूं, कोरोना के कपड़े किसी और से नहीं धुलवाने चाहिए। सीएम शिवराज ने कहा कि कोरोना स्वावलंबन सिखाता है। कोरोना से बिल्कुल घबराने की जरूरत नहीं है। मेरे हाथ का फ्रैक्चर