विशेष


bhopal, Home Minister, Narottam Mishra, did not get permission, Corona Vaccine

भोपाल। मध्य प्रदेश के गृह एवं जेल मंत्री डॉ नरोत्तम मिश्रा शुक्रवार सुबह कोवैक्सीन का ट्रायल लेने पीपुल्स अस्पताल पहुंचे। यहां आईसीएमआर की गाइडलाइन अनुसार मंत्री मिश्रा को वैक्सीनेशन के पूर्व काउंसलिंग की गई। हालांकि गृहमंत्री के परिवार में पत्नी और बेटे के कोरोना पॉजिटिव होने के कारण उन्हें कोवैक्सीन के ट्रायल की परमिशन नहीं दी गई है।   दरअसल, राजधानी के पीपुल्स हॉस्पिटल में कोरोना वैक्सीन के तीसरे चरण का क्लीनिकल ट्रायल चल रहा है। गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कोरोना वैक्सीन का ट्रायल टीका लगवाने का ऐलान किया था। इसके लिए वे शुक्रवार को पीपुल्स हॉस्पिटल पहुंचे थे। काउंसिलिंग के दौरान गृहमंत्री से परिवार में पत्नी और बेटे के कोरोना पॉजिटिव होने की जानकारी मिलने के पश्चात कोवैक्सीन के ट्रायल की परमिशन नहीं दी गई है। इसको लेकर मंत्री नरोत्तम मिश्रा का बयान भी सामने आया है।    उन्होंने कहा कि बहुत इच्छा थी कि कोविड वैक्सीन के ट्रायल में वॉलंटियर बनूं और इसके माध्यम से समाज के लिए कुछ करूं। वैक्सीन ट्रायल के लिए आईसीएमआर के एलिजिबिलिटी क्राइटेरिया में फिट नहीं बैठ सका इसकी मन में बहुत पीड़ा है।    उन्होंने बताया कि पीपुल्स मेडिकल कॉलेज के डीन डॉ.अनिल दीक्षित ने बताया कि कोविड की गाइडलाइन अनुसार मुझे वॉलंटियर के रूप में वैक्सीन नहीं लगाया जा सकता। एलिजिबिलिटी क्राइटेरिया के मुताबिक वॉलंटियर के किसी निकट परिजन को कोविड19 नहीं होना चाहिए। जबकि मेरी धर्मपत्नी, पुत्र पॉजिटिव हो चुके हैं। इस दौरान मंत्री मिश्रा ने वैक्सीन ट्रायल की गाइडलाइन सरल करने की बात कही है। गृहमंत्री मिश्रा ने कहा- वॉलिंटियर गाइडलाइन सुनेगा तो तैयार नहीं होगा, यदि हो सके तो गाइडलाइन सरल हो।

Dakhal News

Dakhal News 4 December 2020


bhopal,After rice, adulteration,ration salt, Kamal Nath calls , case serious,shameful

भोपाल। मध्य प्रदेश में सार्वजनिक वितरण प्रणाली के अंतर्गत गरीबों को दिए जाने वाले चावल के बाद अब नमक में भी मिलावट का मामला सामने आया है। सागर जिले के बीना ब्लॉक और जबलपुर की राशन दुकानों से बांटे जा रहे नमक में बारीक रेत मिलाने का खुलासा हुआ है। इस मामले को लेकर अब राजनीति शुरू हो गई है। विपक्ष में बैठी कांग्रेस आक्रामक हो गई है और सरकार पर सवाल उठा रही है। वहीं पूर्व सीएम और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने पूरे मामले को शर्मनाक बताते हुए दोषियों पर कार्यवाही की मांग की है।   कमलनाथ ने ट्वीट कर पूरे मामले पर सरकार पर निशाना साधा है। उन्होंने एक के बाद एक कई ट्वीट कर कहा ‘शिवराज सरकार में प्रदेश के कई जिलो में गऱीबों को जानवरो के खाने लायक़ चावल के वितरण के बाद अब गऱीबों को सार्वजनिक राशन वितरण प्रणाली के तहत दिये जाने वाला नमक भी मिलावटी? नमक में रेत? जबलपुर व सागर में इस तरह के मामले सामने आये हैं, बेहद गंभीर व शर्मनाक? एक अन्य ट्वीट कर उन्होंने कहा कि ‘शिवराज सरकार में हर जगह भ्रष्टाचार, फर्जीवाडे, घोटाले, मिलावट का काम जारी। प्रदेशभर में गऱीबों को वितरित की जाने वाली राशन सामग्री की जाँच हो, घटिया चावल के वितरण के बाद अब नमक भी मिलावटी, गरीबों के स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ बंद हो, दोषियों पर कड़ी से कड़ी कार्यवाही हो।

Dakhal News

Dakhal News 4 December 2020


bhopal,After rice, adulteration,ration salt, Kamal Nath calls , case serious,shameful

भोपाल। मध्य प्रदेश में सार्वजनिक वितरण प्रणाली के अंतर्गत गरीबों को दिए जाने वाले चावल के बाद अब नमक में भी मिलावट का मामला सामने आया है। सागर जिले के बीना ब्लॉक और जबलपुर की राशन दुकानों से बांटे जा रहे नमक में बारीक रेत मिलाने का खुलासा हुआ है। इस मामले को लेकर अब राजनीति शुरू हो गई है। विपक्ष में बैठी कांग्रेस आक्रामक हो गई है और सरकार पर सवाल उठा रही है। वहीं पूर्व सीएम और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने पूरे मामले को शर्मनाक बताते हुए दोषियों पर कार्यवाही की मांग की है।   कमलनाथ ने ट्वीट कर पूरे मामले पर सरकार पर निशाना साधा है। उन्होंने एक के बाद एक कई ट्वीट कर कहा ‘शिवराज सरकार में प्रदेश के कई जिलो में गऱीबों को जानवरो के खाने लायक़ चावल के वितरण के बाद अब गऱीबों को सार्वजनिक राशन वितरण प्रणाली के तहत दिये जाने वाला नमक भी मिलावटी? नमक में रेत? जबलपुर व सागर में इस तरह के मामले सामने आये हैं, बेहद गंभीर व शर्मनाक? एक अन्य ट्वीट कर उन्होंने कहा कि ‘शिवराज सरकार में हर जगह भ्रष्टाचार, फर्जीवाडे, घोटाले, मिलावट का काम जारी। प्रदेशभर में गऱीबों को वितरित की जाने वाली राशन सामग्री की जाँच हो, घटिया चावल के वितरण के बाद अब नमक भी मिलावटी, गरीबों के स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ बंद हो, दोषियों पर कड़ी से कड़ी कार्यवाही हो।

Dakhal News

Dakhal News 4 December 2020


bhopal,Shivraj said, Ratlam encounter, such maleficent , right to live in society

भोपाल। मध्यप्रदेश के रतलाम जिले में तिहरे हत्याकांड के मुख्य आरोपी दिलीप देवल को गुरुवार रात पुलिस ने एनकाउंटर में मार गिराया। पुलिस आरोपित को वारदात के बाद से ही ट्रेस कर रही थी और उस पर तीस हजार का ईनाम भी घोषित किया था। इस मुठभेड़ में दो सब इंस्पेक्टर सहित पांच पुलिसकर्मी भी घायल हुए हैं। रतलाम मुठभेड़ पर सीएम शिवराज सिंह चौहान ने प्रतिक्रिया दी है।   सीएम शिवराज ने ट्वीट कर मुठभेड़ पर कहा है कि अभी थोड़ी देर पहले रतलाम ट्रिपल मर्डर केस का मुख्य आरोपी दिलीप देवल पुलिस के साथ मुठभेड़ में मारा गया। मैंने पुलिस को सख्त निर्देश दिए थे की ऐसे नरपिशाच को समाज में रहने का कोई अधिकार नहीं है। उसे जल्द से जल्द पकड़ा जाए। उन्होंने पुलिस की टीम को कार्यवाही के लिए धन्यवाद देते हुए घायल पुलिस कर्मियों के स्वस्थ होने की कामना की है। एक अन्य ट्वीट कर उन्होंने कहा ‘जब पुलिस टीम उसे पकडऩे गयी तो उसने टीम पर गोलियाँ चलाई और हमारे बहादुर जवानों ने उसका मुंहतोड़ जवाब दिया। हमारे कुछ पुलिसकर्मी इस मुठभेड़ में घायल भी हुए है। मैं उनके शीघ्रातिशीघ्र ठीक होने की कामना करता हूँ। पूरी पुलिस टीम को मध्यप्रदेश की तरफ़ से धन्यवाद। मध्यप्रदेश आज फिर से शांति से सोएगा क्योंकि आप हमारे रक्षक हो। जय हिंद!

Dakhal News

Dakhal News 4 December 2020


bhopal, Private mandis ,may open soon ,MP government, preparing permission

भोपाल। केन्द्र सरकार द्वारा लाए गए कृषि कानून को लेकर इन दिनों देश भर में के किसानों में आक्रोश देखने को मिल रहा है। वहीं अब मध्य प्रदेश की शिवराज सरकार प्रदेश में निजी मंडिया खोलने पर विचार कर रही है। इसके लिए सरकार ने तैयारी शुरू कर दी है। इससे किसान अपनी उपज कहीं भी बेच सकेंगे। यहां तक कि व्यापारियों को मंडियों के बाहर भी खरीद की अनुमति होगी।   प्रदेश में निजी मंडिया खोलने के लिए शिवराज सरकार जल्द ही अनुमति देने की तैयारी में है। इसके लिए कृषि उपज मंडी अधिनियम 1972 में संशोधन की तैयारी तेज हो गई है। सरकार द्वारा 28 दिसंबर से प्रस्तावित तीन दिवसीय विधानसभा सत्र के दौरान सदन में संशोधन विधेयक प्रस्तुत करेगी। संशोधित विधेयक में केंद्रीय कानून के सभी बिंदु शामिल रहेंगे। निजी मंडियों में व्यापारी न्यूनतम समर्थन मूल्य में अनाज की खरीदारी किसानों से कर सकेंगे। इसमें व्यापारियों को पंजीयन कराना होगा। इससे किसानों को इसका लाभ मिलेगा।

Dakhal News

Dakhal News 3 December 2020


bhopal,CM Shivraj ,dismisses speculation,cabinet expansion

भोपाल। मध्य प्रदेश में मंत्रिमंडल विस्तार को लेकर चर्चाओं का दौर तेज हो गया है। सिंधिया और सीएम शिवराज की मुलाकात के बाद सीएम शिवराज दिल्ली का दिल्ली दौरा मंत्रिमंडल विस्तार की अटकलों को हवा दे रहा है। अब राज्यपाल आनंदीबेन पटेल 7 दिसंबर को दो दिवसीय दौरे पर मध्य प्रदेश आ रही हैं। इससे चर्चा तेज है कि 8 दिसंबर को शिवराज मंत्रिमंडल का विस्तार हो सकता है। हालांकि आधिकारिक तौर पर इस तरह की कोई भी जानकारी सामने नहीं आई है।   वही अब मंत्रिमंडल विस्तार पर सीएम शिवराज का बड़ा बयान सामने आया है। उन्होंने मंत्रिमंडल विस्तार की अटकलों को सिरे से नकार दिया है। दरअसल गुरुवार को सीएम शिवराज भोपाल गैस कांड की 36 वीं बरसी पर सेंटर लायब्रेरी में सर्वधर्म प्रार्थना सभा में पहुंचे थे। यहां मीडिया ने जब उनसे मंत्रिविस्तार को लेकर सवाल पूछा तो उन्होंने मंत्रिमंडल विस्तार की अटकलों को खारिज करते हुए कहा कि अभी मंत्रिमंडल विस्तार की कोई तिथि तय नही है। जब होगा तो पता चल जाएगा।   माफियाओं पर सख्त सरकारइस दौरान प्रदेश भर में गुंडे माफियाओं के खिलाफ चलाए जा रहे अभियान पर सीएम शिवराज ने कहा कि हमारी सरकार, सज्जनों के लिए फूल से ज्यादा कोमल और दुष्टों के लिए वज्र से ज्यादा कठोर है। इसलिए माफिया बोरिया-बिस्तर बांध लें, नहीं तो परिणाम भुगतने के लिए तैयार रहें। मध्यप्रदेश में कोई माफिया, गुंडा, तस्कर, दादा, कोई बदमाश छोड़ा नहीं जायेगा।किसानों के लिए कोई कसर नही छोड़ेंगेकिसान कल्याण योजना को लेकर सीएम शिवराज ने कहा कि मुख्यमंत्री किसान कल्याण योजना के अंतर्गत 100 करोड़ रुपये आज प्रदेश के 5 लाख किसानों के खाते में डाले जा रहे हैं। यह जारी रहेगा और इससे लगभग 80 लाख किसान लाभान्वित होंगे। किसानों के कल्याण के लिए जो कदम उठाने चाहिए, वो हमारी सरकार लगातार उठा रही है। हम कोई कसर नहीं छोड़ेंगे।

Dakhal News

Dakhal News 3 December 2020


bhopal,CM Shivraj ,dismisses speculation,cabinet expansion

भोपाल। मध्य प्रदेश में मंत्रिमंडल विस्तार को लेकर चर्चाओं का दौर तेज हो गया है। सिंधिया और सीएम शिवराज की मुलाकात के बाद सीएम शिवराज दिल्ली का दिल्ली दौरा मंत्रिमंडल विस्तार की अटकलों को हवा दे रहा है। अब राज्यपाल आनंदीबेन पटेल 7 दिसंबर को दो दिवसीय दौरे पर मध्य प्रदेश आ रही हैं। इससे चर्चा तेज है कि 8 दिसंबर को शिवराज मंत्रिमंडल का विस्तार हो सकता है। हालांकि आधिकारिक तौर पर इस तरह की कोई भी जानकारी सामने नहीं आई है।   वही अब मंत्रिमंडल विस्तार पर सीएम शिवराज का बड़ा बयान सामने आया है। उन्होंने मंत्रिमंडल विस्तार की अटकलों को सिरे से नकार दिया है। दरअसल गुरुवार को सीएम शिवराज भोपाल गैस कांड की 36 वीं बरसी पर सेंटर लायब्रेरी में सर्वधर्म प्रार्थना सभा में पहुंचे थे। यहां मीडिया ने जब उनसे मंत्रिविस्तार को लेकर सवाल पूछा तो उन्होंने मंत्रिमंडल विस्तार की अटकलों को खारिज करते हुए कहा कि अभी मंत्रिमंडल विस्तार की कोई तिथि तय नही है। जब होगा तो पता चल जाएगा।   माफियाओं पर सख्त सरकारइस दौरान प्रदेश भर में गुंडे माफियाओं के खिलाफ चलाए जा रहे अभियान पर सीएम शिवराज ने कहा कि हमारी सरकार, सज्जनों के लिए फूल से ज्यादा कोमल और दुष्टों के लिए वज्र से ज्यादा कठोर है। इसलिए माफिया बोरिया-बिस्तर बांध लें, नहीं तो परिणाम भुगतने के लिए तैयार रहें। मध्यप्रदेश में कोई माफिया, गुंडा, तस्कर, दादा, कोई बदमाश छोड़ा नहीं जायेगा।किसानों के लिए कोई कसर नही छोड़ेंगेकिसान कल्याण योजना को लेकर सीएम शिवराज ने कहा कि मुख्यमंत्री किसान कल्याण योजना के अंतर्गत 100 करोड़ रुपये आज प्रदेश के 5 लाख किसानों के खाते में डाले जा रहे हैं। यह जारी रहेगा और इससे लगभग 80 लाख किसान लाभान्वित होंगे। किसानों के कल्याण के लिए जो कदम उठाने चाहिए, वो हमारी सरकार लगातार उठा रही है। हम कोई कसर नहीं छोड़ेंगे।

Dakhal News

Dakhal News 3 December 2020


bhopal, girl claimed, write what, Shivraj told ,her wife

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान द्वारा ट्विटर पर शेयर की गई एक कविता को लेकर बवाल मच गया है। शिवराज ने जिस कविता को अपनी पत्नी की बताकर शेयर किया था, उस कविता पर भूमिका बिरथरे नामक ट्विटर यूजर ने दावा किया है। भूमिका का कहना है कि यह कविता उसने लिखी थी। वहीं, विपक्षी कांग्रेस ने इसे लेकर मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान और भारतीय जनता पार्टी पर निशाना साधा है।   मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान के ससुर घनश्यामदास मसानी का 18 नवम्बर को निधन हो गया था। 88 साल के मसानी भोपाल के एक निजी अस्पताल में भर्ती थे। उस समय सीएम अपनी पत्नी और दोनों बेटों के साथ तिरुपति बालाजी के दर्शन के लिए गए थे। खबर मिलते ही शिवराज अपनी यात्रा बीच में छोड़कर लौट आए थे। मुख्यमंत्री चौहान ने अपने ससुर को याद करते हुए एक ‘बाऊजी’ शीर्षक वाली एक कविता ट्विटर पर शेयर की थी। उन्होंने कहा था कि यह कविता उनकी पत्नी साधनासिंह ने अपने पिता के लिए लिखी थी। इसी कविता पर मंगलवार को भूमिका बिरथरे नामक लड़की ने दावा किया है। भूमिका ने दावा किया है कि उसने अपने डैडी की याद में इस कविता को लिखा था और 21 नवंबर को अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर पोस्ट किया था। साधना सिंह ने इस कविता को कॉपी किया। डैडी शब्द की जगह बाबूजी किया और पोस्ट कर दिया। बाद में शिवराज ने इसे शेयर करते हुए साधना सिंह की लिखी कविता बताया।   भूमिका ने कविता के शब्दों में हेरफेर पर भी आपत्ति जताई है। उन्होंने लिखा है कि वे अपने पिता को डैडी कहती थी, लेकिन सोशल मीडिया इसे कुछ लोग बाबूजी, बाऊजी या पापा जैसे शब्दों के साथ शेयर कर रहे हैं। उन्होंने अपील की है कि कविता के शब्द बेहद व्यक्तिगत हैं और इससे उनकी भावनाएं जुड़ी हैं। इसे तोड़-मरोड़कर कविता के साथ अन्याय न करें। भूमिका ने इस कविता को लेकर मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान पर भी तंज कसा है। उसने ट्वीट किया है- सर भांजी हूं आपकी, मेरी कविता चुराकर आपको क्या मिलेगा??? ये कविता मेरे द्वारा लिखी गई है। उम्मीद है आप मेरे अधिकारों का हनन नहीं करेंगे। मामा तो अधिकारों की रक्षा के लिए हैं ना।   इधर, इस प्रकरण को लेकर कांग्रेस ने भी मुख्यमंत्री चौहान पर निशाना साधा है। पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अरुण यादव ने कहा है कि भाजपा नाम बदलने में माहिर है। अब तो शिवराज दूसरों की लिखी कविता को अपनी धर्मपत्नी की लिखी हुई बता रहे हैं।

Dakhal News

Dakhal News 1 December 2020


bhopal,Shivraj met, Prime Minister Modi, entrusted self-reliant ,Madhya Pradesh roadmap

नईदिल्ली/भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मंगलवार सुबह नई दिल्ली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से उनके निवास 7 लोक कल्याण मार्ग, पहुंचकर मुलाकात की। लगभग एक घंटे चली मुलाकात के दौरान मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री मोदी को प्रदेश में चलाई जा रही विभिन्न योजनाओं एवं कार्यों की जानकारी दी। इस दौरान मुख्यमंत्री ने आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश का रोडमैप प्रधानमंत्री को सौंपा तथा बालाघाट क्षेत्र में नक्सलियों के खिलाफ की गई कार्यवाही की जानकारी दी। इससे पहले मुख्यमंत्री चौहान 29 सितम्बर को प्रधानमंत्री से मिले थे।   मुख्यमंत्री चौहान ने प्रधानमंत्री को यह भी बताया कि कोरोना के बाद आर्थिक गतिविधियों को बढ़ावा देने के लिए प्रदेश में क्या कदम उठाए जा रहे हैं। कोरोना वैक्सीन आने पर टीकाकरण अभियान कैसे चलाया जाएगा, इसकी जानकारी भी मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री को दी। उन्होंने यह भी बताया कि मध्यप्रदेश में कोरोना वैक्सीन की कोल्ड चेन और टीकाकरण के लिए मुख्य सचिव की अध्यक्षता में कमेटी बनाई गई है। इसके लिए जिलों में टास्क फोर्स बनाने का निर्णय लिया गया है। मुख्यमंत्री दिल्ली में पार्टी के अन्य बड़े नेताओं से भी मुलाकात करेंगे। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्‌डा और गृहमंत्री अमित शाह से मुख्यमंत्री की आज मुलाकात हो सकती है। इससे यह अनुमान लगाया जा रहा है कि शीर्ष नेतृत्व को भरोसे में लेकर ही मुख्यमंत्री अपनी टीम में नए सदस्यों को शामिल करना चाहते हैं।

Dakhal News

Dakhal News 1 December 2020


bhopal, death , innocent children, Shahdol , prices , petrol and diesel

भोपाल। मध्यप्रदेश के शहडोल जिला अस्पताल में मासूम बच्चों की मौत और प्रदेश में पेट्रोल- डीजल की बढ़ती कीमतों को लेकर विपक्ष हमलावर हो गया है। पूर्व सीएम और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने दोनों ही मुद्दों पर चिंता जाहिर करते हुए सरकार का घेराव किया है और सवाल पूछे हैं।   कमलनाथ ने मंगलवार को एक के बाद एक कई ट्वीट कर शहडोल जिला अस्पताल में मासूम बच्चों की मौत और पेट्रोल डीजल के दामों को लेकर सरकार पर निशाना साधा है। शहडोल मामले पर बच्चों की मौत पर चिंता जाहिर करते हुए कमलनाथ ने सरकार से पीडि़त परिजनों को हर संभव मदद की मांग की है। उन्होंने ट्वीट कर कहा ‘शहडोल में मासूम बच्चों की मौत का आंकड़ा निरंतर बढ़ता जा रहा है, दो और बच्चों की मौत की जानकारी सामने आई है। यह आँकड़े बेहद गंभीर व चिंताजनक है। सरकार इस मामले को बेहद गंभीरता से लेते हुए सभी आवश्यक निर्णय लें।भर्ती सभी गंभीर हालत के बच्चों को समुचित इलाज मिले ताकि उन्हें मौत के मुंह में जाने से बचाया जा सके। आवश्यकता पडऩे पर उन्हें  प्रदेश के अन्य अस्पतालों में शिफ़्ट कर सरकार अपने खर्च पर उनका इलाज करवाये। पीडि़त परिवारों की भी सरकार हर संभव मदद करें।   वहीं एक अन्य ट्वीट कर कमलनाथ ने प्रदेश में पेट्रोल डीजल के रिकार्ड बढ़ोत्तरी पर सरकार पर तंज कसते हुए कहा ‘पेट्रोल-डीजल की निरंतर बढ़ती कीमतें रिकॉर्ड बनाते जा रही है। माध्यप्रदेश में देश में सबसे महंगा पेट्रोल मिलने के बाद अब डीजल की औसत कीमत के मामले में भी प्रदेश देश में तीसरे स्थान पर पहुँच चुका है। कोरोना महामारी में पहले से ही आमजन बेहद परेशान है, ऐसे में सरकार को तत्काल पेट्रोल-डीजल पर लगे करो में कमी कर जनता को राहत प्रदान करना चाहिए लेकिन सरकार कुंभकर्णीय नींद में सोई हुई है। विपक्ष में विरोध में साईकिल चलाने वाले, बैलगाड़ी यात्रा निकालने वाले आज ग़ायब है, मौन है।

Dakhal News

Dakhal News 1 December 2020


bhopal, death , innocent children, Shahdol , prices , petrol and diesel

भोपाल। मध्यप्रदेश के शहडोल जिला अस्पताल में मासूम बच्चों की मौत और प्रदेश में पेट्रोल- डीजल की बढ़ती कीमतों को लेकर विपक्ष हमलावर हो गया है। पूर्व सीएम और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने दोनों ही मुद्दों पर चिंता जाहिर करते हुए सरकार का घेराव किया है और सवाल पूछे हैं।   कमलनाथ ने मंगलवार को एक के बाद एक कई ट्वीट कर शहडोल जिला अस्पताल में मासूम बच्चों की मौत और पेट्रोल डीजल के दामों को लेकर सरकार पर निशाना साधा है। शहडोल मामले पर बच्चों की मौत पर चिंता जाहिर करते हुए कमलनाथ ने सरकार से पीडि़त परिजनों को हर संभव मदद की मांग की है। उन्होंने ट्वीट कर कहा ‘शहडोल में मासूम बच्चों की मौत का आंकड़ा निरंतर बढ़ता जा रहा है, दो और बच्चों की मौत की जानकारी सामने आई है। यह आँकड़े बेहद गंभीर व चिंताजनक है। सरकार इस मामले को बेहद गंभीरता से लेते हुए सभी आवश्यक निर्णय लें।भर्ती सभी गंभीर हालत के बच्चों को समुचित इलाज मिले ताकि उन्हें मौत के मुंह में जाने से बचाया जा सके। आवश्यकता पडऩे पर उन्हें  प्रदेश के अन्य अस्पतालों में शिफ़्ट कर सरकार अपने खर्च पर उनका इलाज करवाये। पीडि़त परिवारों की भी सरकार हर संभव मदद करें।   वहीं एक अन्य ट्वीट कर कमलनाथ ने प्रदेश में पेट्रोल डीजल के रिकार्ड बढ़ोत्तरी पर सरकार पर तंज कसते हुए कहा ‘पेट्रोल-डीजल की निरंतर बढ़ती कीमतें रिकॉर्ड बनाते जा रही है। माध्यप्रदेश में देश में सबसे महंगा पेट्रोल मिलने के बाद अब डीजल की औसत कीमत के मामले में भी प्रदेश देश में तीसरे स्थान पर पहुँच चुका है। कोरोना महामारी में पहले से ही आमजन बेहद परेशान है, ऐसे में सरकार को तत्काल पेट्रोल-डीजल पर लगे करो में कमी कर जनता को राहत प्रदान करना चाहिए लेकिन सरकार कुंभकर्णीय नींद में सोई हुई है। विपक्ष में विरोध में साईकिल चलाने वाले, बैलगाड़ी यात्रा निकालने वाले आज ग़ायब है, मौन है।

Dakhal News

Dakhal News 1 December 2020


bhopal, CM Shivraj ,will address, people of the state ,tonight at 8.00 pm

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान आज (सोमवार) रात्रि 8.00 बजे प्रदेश की की जनता को संबोधित कर महत्वपूर्ण संदेश देंगे। मुख्यमंत्री का संदेश दूरदर्शन सभी रीजनल चैनल्स और सोशल मीडिया पर प्रसारित किया जाएगा।    सीएमओ कार्यालय द्वारा सोमवार सुबह ट्वीट के माध्यम से जानकारी देते हुए बताया कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान आज रात 8.00 बजे प्रदेश के जनता को महत्वपूर्ण संदेश देंगे। उनके संदेश का प्रसारण दूरदर्शन, सभी क्षेत्रीय समाचार चैनलों और सोशल मीडिया के विभिन्न प्लेटफार्म पर किया जाएगा। नागरिक सोशल मीडिया के माध्यम से मुख्यमंत्री के लाइव कार्यक्रम से जुड़ सकते हैं।

Dakhal News

Dakhal News 30 November 2020


bhopal,Kamal Nath ,raised questions , government

भोपाल। मध्य प्रदेश की शिवराज सरकार द्वारा कृषि उपज मंडियों में व्यापारियों से लिए जाने वाले मंडी शुल्क की राशि घटाकर 1.50 रुपये के स्थान पर 50 पैसे प्रति 100 रुपये कर दी गई है। यह छूट 14 नवम्बर से आगामी 3 माह तक रहेगी। सरकार के इस फैसले पर मप्र के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने सवाल उठाए हैं। उन्होंने सरकार के इस ऐलान को चुनावी जुमला करार देते हुए, इस छूट को स्थायी रूप से लागू करने की मांग की है।    कमलनाथ ने शुक्रवार को एक के बाद एक लगातार कई ट्वीट कर सरकार की मंशा पर सवाल उठाए है। उन्होंने ट्वीट कर लिखा ‘एक और चुनावी घोषणा बनी जुमला व धोखा। मंडी टेक्स में सिर्फ 3 माह के लिए दी गई परीक्षण अस्थायी छूट कृषि उपज व्यापारियों के साथ बड़ा धोखा, इससे ना व्यापारियों का भला होगा ना किसानों का। उन्होंने कहा कि ‘व्यापारियों ने किसान हित में व व्यापारियों के हित में सरकार के सामने कई जायज़ माँगे रखी थी लेकिन किसी पर भी फ़ैसला नहीं। मंडी टैक्स की यह छूट भी स्थायी रूप से लागू होना चाहिये थी। वर्तमान समय में मंडी में ऐसे ही आवक कम होने की कगार पर, ऐसे में मात्र तीन माह के लिये मिली अस्थायी छूट का कोई बड़ा फायदा व्यापारियों को नहीं मिलेगा? बाद में रेवेन्यू लॉस के नाम पर मंडी टेक्स फिर बढ़ा दिया जाएगा। अभी सिर्फ़ गुमराह करने के लिये लिया गया निर्णय, इससे कृषि उपज व्यापारियों को कोई बड़ा फ़ायदा नहीं ।   कमलनाथ ने कहा कि यदि सरकार व्यापारियों का व किसानो का हित चाहती है तो इस छूट को परीक्षण के तौर पर अस्थायी रूप से लागू करने की बजाय इसे स्थायी रूप से लागू करे व उनकी सभी जायज़ माँगो पर तत्काल निर्णय लिया जाये।

Dakhal News

Dakhal News 27 November 2020


bhopal,Corona vaccine trial ,capital from today, Volunteer, first dose, vaccine

भोपाल। राजधानी भोपाल में शुक्रवार से कोरोना की कोवैक्सीन के तीसरे चरण का क्लीनिकल ट्रायल शुरू हो रहा है। इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च और भारत बायोटेक इंटरनेशनल की कोरोना वैक्सीन के तीसरे चरण का क्लीनिकल ट्रायल भोपाल के गांधी मेडिकल कॉलेज में किया जाएगा।   कोरोना की वैक्सीन की पहली खेप बुधवार को भोपाल पहुंची थी जिसके बाद आज से कोवैक्सीन के तीसरे चरण का क्लीनिकल ट्रायल होगा। वैक्सीन के 1000 डोज कॉलेज को मिले।  जानकारी के मुताबिक ट्रायल के तहत 2 से 3 हज़ार वॉलेंटियर्स को टीका लगाया जाएगा। टीके का पहला डोज जहां से लगेगा वहीं, दूसरा डोज 28 दिन बाद लगाया जाएगा। ट्रायल कामयाब होने के बाद यह टीका सबसे पहले फ्रंटलाइन कोरोना वॉयरियर उसके बाद बच्चों और बुजुर्गों को लगाया जाएगा। इसके लिए प्रदेश में हजारों सेंटर भी खोले जाएंगे। हालांकि स्वास्थ्य विभाग में इसके लिए रजिस्ट्रेशन कराना होगा। टीके की जानकारी लोगों को पता चलती रहे, इसके लिए उन्हें मोबाइल पर भेजकर टीकाकरण की तारीख और समय को बताया जाएगा।

Dakhal News

Dakhal News 27 November 2020


bhopal, MP: State government ,reduced mandi fee

भोपाल। प्रदेश की शिवराज सरकार ने गत दिनों व्यापारियों से किए अपने एक वादे को पूरा कर दिया है। मुख्यमंत्री शिवराज चौहान ने कहा है कि मध्य प्रदेश की कृषि उपज मंडियों में व्यापारियों से लिए जाने वाले मंडी शुल्क की राशि अब 1.50 रुपये के स्थान पर 50 पैसे प्रति 100 रुपये होगी। यह छूट 14 नवम्बर 2020 से आगामी 3 माह के लिए रहेगी। मुख्यमंत्री चौहान ने यह निर्णय गुरुवार को उच्च स्तरीय बैठक में लिया। इस दौरान मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस, प्रमुख सचिव अजीत केसरी, प्रमुख सचिव मनोज गोविल तथा संबंधित अधिकारी उपस्थित रहे।   बता दें कि गत दिनों व्यापारियों द्वारा मुख्यमंत्री चौहान को आश्वस्त किया गया था कि मंडी शुल्क में छूट देने से मंडियों की आय में कमी नहीं होगी। तीन महीने बाद इस छूट के परिणामों का अध्ययन कर आगे के लिए निर्णय लिया जाएगा। जिसके बाद व्यापारियों के आश्वासन पर मंडी शुल्क में छूट दी गई है। छूट की अवधि में यदि मंडियों को प्राप्त आय से मंडियों के संचालन, उनके रखरखाव एवं कर्मचारियों के वेतन भत्तों की व्यवस्था सुनिश्चित करने में कठिनाई नहीं होती है, तो राज्य शासन द्वारा इस छूट को आगे भी जारी रखा जा सकता है।   गत वर्ष मंडियों को हुई थी 12 सौ करोड़ रुपये की आय वर्ष 2019-20 में प्रदेश की कृषि उपज मंडी समितियों को मंडी फीस एवं अन्य स्रोतों से कुल 12 सौ करोड रुपये की आय हुई थी। मंडी बोर्ड में लगभग 4200 तथा मंडी समिति सेवा में लगभग 29 सौ अधिकारी-कर्मचारी कार्यरत हैं तथा लगभग 2970 सेवानिवृत्त अधिकारी- कर्मचारी हैं। इनके वेतन भत्तों पर गत वर्ष 677 करोड रुपये का व्यय हुआ था।

Dakhal News

Dakhal News 26 November 2020


bhopal, Shivraj government, first cabinet meeting, today ,after by-election results

भोपाल। मध्य प्रदेश में संपन्न हुए विधानसभा उपचुनाव नतीजों के बाद गुरुवार को शिवराज सरकार की पहली कैबिनेट बैठक होने जा  रही है। शाम 6:30 बजे मंत्रालय में आयोजित होने वाली इस बैठक में कई अहम मुद्दों पर मुहर लग सकती है।   सीएम शिवराज की अध्यक्षता में मंत्रालय में आयोजित होनी वाली कैबिनेट बैठक में मुख्य रूप से जिन प्रस्तावों पर मुहर लग सकती है उनमें मुंबई स्थित मध्यालोक अतिथि गृह भवन निर्माण के लिए पुनरीक्षित- प्रशासकीय स्वीकृति, मप्र मानव अधिकार आयोग के लिए स्वीकृत अस्थाई पदों को 1 अप्रैल 2020 से केंद्रीय वित्त आयोग की अवार्ड तिथि तक निरंतर करने हेतु, नेशनल पार्कों व अभयारण्य और चिडिय़ाघरों में प्रवेश शुल्क सेप्राप्त होने वाली राशि का उपयोग के लिए विकास निधि फंड की स्थापना इसमें अहम हैं।    इसके अलावा इस बैठक में अन्‍य प्रस्‍तावों में मप्र नर्सिंग शिक्षण संस्था मान्यता नियम में आवश्यक संशोधन, जबलपुर मेडिकल कॉलेज में स्टेट कैंसर इंस्टीट्यूट निर्माण की प्रशासकीय स्वीकृति तथा यहां स्वीकृत 250 पदों में से 20 पदों को स्कूल ऑफ एक्सीलेंस इन पलमोनरी मेडिसिन में अंतरण, जबलपुर में ग्राम गधेरी में राज्य न्यायिक अकादमी की स्थापना के लिए सैद्धांतिक सहमति, सीहोर जिले की सीप-अंबर सिंचाई कॉम्प्लेक्स परियोजना की प्रशासकीय स्वीकृति प्रमुख रुप से शामिल है।

Dakhal News

Dakhal News 26 November 2020


bhopal, constitution day, Narottam took dig,Congress,constitution is like Gita

भोपाल। देशभर में आज यानि गुरुवार को संविधान दिवस मनाया जा रहा है। इसके साथ ही 26 नवंबर को राष्ट्रीय कानून दिवस के रूप में भी जाना जाता है। संविधान दिवस के मौके पर मध्यप्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने बाबा साहब अम्बेडकर को याद कर प्रतिमा पर माल्यार्पण किया। इस अवसर पर उन्होंने कांग्रेस पर तंज कसते हुए संविधान को गीता के समान बताया है।   गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने गुरुवार को मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि कांग्रेस पर हमला बोलते हुए कहा कि कांग्रेसी कभी नहीं चाहते थे कि नेहरू गांधी खानदान के ऊपर किसी का नाम हो, इसलिए तो कभी संविधान दिवस का सोचा ही नहीं। आगे उन्होंने कहा कि हमारे संविधान को तुष्टिकरण का ग्रन्थ बनाने की कोशिश की गई। संविधान का ग्रन्थ हमारे लिए गीता के समान है। संविधान के साथ सभी को अपने कर्तव्य का भी पालन करना चाहिए। गृहमंत्री मिश्रा ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 2015 में संविधान दिवस मनाने की शुरूआत की थी। बाबा साहब अम्बेडकर संविधान समिति के अध्यक्ष थे। मंत्री ने आगे कहा कि 26 जनवरी की आत्मा 26 नवंबर में ही बसती है। जो लोग संविधान की दुहाई देते हैं मैं उन्हें बताना चाहता हूं कि महान लोकतंत्र की आत्मा संविधान में बसती है।   उपचुनाव के बाद जिम्मेदारियां बढ़ीउपचुनाव के बाद आज हो रही कैबिनेट की बैठक को लेकर मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने बताया कि उपचुनाव के बाद बहुमत में हैं तो जि़म्मेदारियां और बढ़ जाती हैं। कैबिनेट की बैठक में जनहित के फैसले लिए जाएंगे। पंजाब के किसानों के आंदोलन को लेकर मंत्री डॉ नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि पंजाब सरकार ध्यान भटकाने के कोशिश कर रही है। किसान का नहीं ये कांग्रेस का आंदोलन है। किसान समझ चुका है कि कांग्रेस किसानों को नौजवानों को धोखा देती है।

Dakhal News

Dakhal News 26 November 2020


bhopal, Chief Minister ,Shivraj informed, Prime Minister Modi, status of Corona in MP

भोपाल। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मंगलवार को कोरोना के बढ़ते मामलों की समीक्षा करते हुए संक्रमण की रोकथाम तथा वैक्सीन के वितरण की रणनीति को लेकर राज्यों के मुख्यमंत्री से चर्चा की। उन्होंने वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से मध्यप्रदेश में कोरोना की स्थिति को लेकर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से भी बातचीत की। मुख्यमंत्री शिवराज ने पीएम मोदी को प्रदेश में कोरोनी का स्थिति को लेकर जानकारी दी।    बता दें कि मध्यप्रदेश में बीते छह दिनों से कोरोना के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं। यहां दो दिन से नये संक्रमितों की संख्या 1700 के पार पहुंच रही है। इंदौर, भोपाल में सबसे ज्यादा नये संक्रमित मिल रहे हैं। इसकी चलते यहां रात 8.00 बजे सुबह 6.00 बजे तक रात्रिकालीन कफ्र्यू लगाया गया है। इसके अलावा, ग्वालियर, रतलाम, विदिशा समेत पांच जिलों में रात 10.00 बजे से सुबह 06.00 बजे तक रात्रिकालीन कफ्र्यू लागू है। प्रदेश में कोरोना संक्रमण की रोकथाम को लेकर सभी तरह के उपाय किये जा रहे हैं और सख्ती दिखाते हुए लोगों को मास्क पहनने के लिए प्रेरित किया जा रहा है।   वहीं, कोरोना का टीका अभी भले ही नहीं आया है, लेकिन टीके को लेकर भी मध्य प्रदेश सरकार ने तैयारी कर ली है। बताया गया है कि सबसे पहले प्रदेश के पांच लाख स्वास्थ्य कर्मचारियों को यह टीका लगाया जाएगा। इसके बाद प्रदेश के 50 साल के ज्यादा उम्र के करीब 30 लाख लोगों को यह टीका लगाया जाएगा। दरअसल, स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने सोमवार को टीका लगाने की तैयारियों की समीक्षा की थी। राज्य टीकाकरण अधिकरी डॉ. संतोष शुक्ला ने इसकी जानकारी देते हुए बताया कि केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के अधिकारियों ने प्रदेश के टीका संग्रहण केंद्र के 1200 कर्मचारी-अधिकारियों को टीके लगाने का ऑनलाइन प्रशिक्षण दिया है। टीका आने के बाद सभी मेडिकल कॉलेज, जिला अस्पताल, सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र, प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र, स्कूल और पंचायतों में टीका लगाया जाएगा। टीका लगवाने के लिए लोगों को एसएमएस या आमंत्रण पत्र भेजकर बुलाया जाएगा।

Dakhal News

Dakhal News 24 November 2020


bhopal, Narottam targets ,Congress and Kamal Nath, compares , Mehmood Gajvi

भोपाल। ऑल इंडिया कांग्रेस कमेटी के दिल्ली स्थित कांग्रेस मुख्यालय में 106 करोड़ रुपये का बेहिसाब लेन देन सामने आने के बाद प्रदेश की राजनीति में भूचाल आ गया है। एक तरफ जहां कांग्रेस में हडक़ंप की स्थिति बन गई है तो वहीं दूसरी ओर भाजपा आक्रामक हो गई है। प्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा इस पूरे मामले के सामने आने के बाद से ही कांग्रेस और कमलनाथ पर जमकर निशाना साध रहे हैं। उन्होंने कमलनाथ की तुलना महमूद गजऩवी से कर डाली। उन्होंने कहा कि अब समझ में आया कि खजाना खाली है, कमलनाथ क्या अलग क्यों रखते थे। महिला एवं बाल विकास विभाग के कुपोषण का पैसा कांग्रेस राहुल बाबा के कुपोषण दूर करने में लगाया। सोशल वेलफेयर का पैसा गांधी वेलफेयर में जमा हो रहा था।   मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने मंगलवार को मीडिया से बातचीत करते हुए इस पूरे मामले पर कांग्रेस और कमलनाथ पर जमकर हमला बोला। उन्होंने तंज कसते हुए कहा कि मप्र कांग्रेस की कमलनाथ सरकार प्रदेश के इतिहास की भ्रष्टतम सरकार थी। अब मीडिया में भी मप्र से कांग्रेस मुख्यालय को भेजी गई बेहिसाब नकदी का खुलासा हुआ है। कमलनाथ जी प्रदेश की जनता के सोशल वेलफेयर का पैसा गांधी फैमिली के वेलफेयर पर लुटा रहे थे ताकि कुर्सी सलामत रहे। उन्होंने कमलनाथ पर निशाना साधते हुए कहा कि गरीबों के पैसे को लूट कर कमलनाथ ने महमूद गजऩवी जैसा जघन्य पाप किया है। मप्र सरकार भी कांग्रेस के बेहिसाब लेनदेन के पूरे मामले का संज्ञान लेकर विधि विशेषज्ञों से राय लेगी। इनकम टैक्स विभाग से रिकॉर्ड मांगकर ईओडब्ल्यू से जांच कराने पर विचार करेंगी।   दरअसल, एक अंग्रेजी समाचार चैनल की रिपोर्ट के अनुसार उसके पास आयकर विभाग की 408 पन्ने का स्रोत मौजूद है। जिससे पता चला है कि 2016 से 2019 के बीच में नई दिल्ली के अकबर रोड स्थित कांग्रेस मुख्यालय में करीबन 106 करोड रुपये की बेहिसाब नगदी के लेनदेन किए गए हैं। जब पैसे बारी-बारी से कई किश्तों में पार्टी मुख्यालय पहुंची है। इतना ही नहीं न्यूज़ चैनल यह भी दावा किया कि 408 पन्ने के स्रोत में 13 फरवरी 2019 से 4 अक्टूबर के बीच 74 करोड़ 62 हजार रुपये की राशि की लेनदेन पार्टी मुख्यालय में की गई है। वही इससे पहले अगस्त 2016 से सितंबर 2016 के बीच पार्टी मुख्यालय में 26 करोड़ 50 लाख रुपये पार्टी मुख्यालय पहुंचाए गए थे। इसके बाद से ही गृहमंत्री  नरोत्तम मिश्रा लगातार कमलनाथ पर हमला बोल रहे हैं। इससे पहले सोमवार देर शाम को भी उन्होंने ट्वीट कर सवाल साधे थे। जिसमें उन्होंने कहा था कि कमलनाथ के राज में मप्र से कांग्रेस मुख्यालय को भेजे गए 106 करोड़ रुपये। आयकर के दस्तावेजों से अकबर रोड नई दिल्ली को भेजी गई बेहिसाब नकदी का खुलासा। कमलनाथ जी आखिर सच सामने आ ही गया कि मुख्यमंत्री के रूप में आप जनकल्याणकारी योजनाओं के लिए हमेशा पैसों की कमी का रोना क्यों रोते रहते थे? अब पता चला कि अपनी कुर्सी पक्की करने के लिए आपने प्रदेश की जनता के हक का पैसा गांधी परिवार की मंडली पर जमकर न्योछावर किया है!

Dakhal News

Dakhal News 24 November 2020


bhopal, zone 2 and 3, MP earthquake, Chief Minister ,panic during earthquake

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सोमवार को मंत्रालय में राज्य आपदा प्रबंधन की बैठक ली। इस दौरान उन्होंने कहा कि गत दिनों प्रदेश के सिवनी, बालाघाट, बड़वानी, अलीराजपुर, छिंदवाड़ा, मंडला आदि जिलों तथा उनके समीप भूकंप के झटके महसूस किए गए। इनमें रिक्टर स्केल पर सर्वाधिक तीव्रता 4.3, सिवनी में आए भूकंप की थी। मध्यप्रदेश भूकम्प के जोन 2 व 3 में आता है, जो खतरनाक श्रेणी नहीं है। जोन 4 एवं 5 खतरनाक श्रेणी में आते हैं जहां भूकम्प की तीव्रता रिक्टर स्केल पर 4.5 से अधिक रहती है। सरकार द्वारा भूकम्प उन्मुख सभी क्षेत्रों में राहत एवं बचाव की सारी व्यवस्थाएं की गई हैं। धैर्य रखें, घबराएं नहीं तथा सभी आवश्यक सावधानियां बरतें।बैठक में मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस, अपर मुख्य सचिव डॉ. राजेश राजौरा तथा सभी संबंधित अधिकारी उपस्थित थे।वाटर लैवल में अंतर है संभावित कारणगत दिनों प्रदेश में आए भूकंप के संभावित कारणों की समीक्षा में बताया गया कि वाटर लैवल में परिवर्तन इस बार आए भूकंप का संभावित कारण है। इस बार सर्वाधिक 4.3 तीव्रता का भूकंप सिवनी में आया, जिसका एपीसेंटर सिवनी शहर के ठीक नीचे था।गत दिनों प्रदेश में आए भूकम्पमध्यप्रदेश में 22 नवम्बर को सिवनी शहर में रिक्टर स्केल पर 4.3 तीव्रता का, कटंगी बालाघाट में 2.4 तीव्रता का, कुरई सिवनी में 1.8 तीव्रता का तथा बरघाट केवलारी में 2.7 तीव्रता का भूकंप आया। इसी प्रकार 07 नवंबर को बड़वानी एवं अलीराजपुर के समीप 4.2 तीव्रता का, सिवनी जिले के पास ही 27 अक्टूबर को 3.3 तीव्रता का भूकंप आया, जिसके झटके मंडला और बालाघाट में भी आए, 31 अक्टूबर को छिंदवाड़ा में 3.2 तीव्रता का तथा सिवनी जिले के पास 3.5 तीव्रता का भूकंप आया।भूकम्प के समय ये सावधानियां बरतेंजहां है वहीं रहें, संतुलित रहें। हड़बड़ी घातक हो सकती है। यदि घर के अन्दर हैं, तो गिर सकने वाली भारी वस्तुओं से दूर रहें। खिड़कियों से दूर रहें। मजबूत मेज के नीचे छुपें। चेहरे व सिर को हाथों की सुरक्षा प्रदान करें व कम्पन रूकने तक सिर को हाथों की सुरक्षा में रखें। अगर घर से बाहर हैं तो खुली जगह तलाशें। भवनों, पेड़ों, बिजली के खम्भों व तारों से दूर रहें। अगर वाहन में हो तो रूकें और अन्दर ही रहें। पुल, बिजली के तारों, भवनों, खाई और तीव्र ढाल वाली चट्टानों से दूर रहें। बिजली के उपकरण व खाना पकाने की गैस बन्द कर दें। टूटे सामान से पैर चोटिल हो सकते है, अत: जूते पहन कर रखें। अगर काई ज्वलनशील पदार्थ फैल गया है, तो तुरन्त उसे साफ करें। यदि आग लग गयी है और धुआं है, तो लेट कर बाहर निकलने का प्रयास करें। ऐसे में साफ हवा जमीन के नजदीक ही मिलेगी।

Dakhal News

Dakhal News 23 November 2020


bhopal, Chief Minister ,puts 150 crore,account , women, self-help groups

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश सरकार की सबसे बड़ी प्राथमिकता महिलाओं का सशक्तीकरण है। इसके लिए सरकार उन्हें विभिन्न गतिविधियों के लिए 4 प्रतिशत ब्याज पर बैंकों से ऋण दिला रही है तथा शेष ब्याज की राशि मध्यप्रदेश सरकार भर रही है। उन्‍होंने कहा कि इस वर्ष महिलाओं को उनकी आर्थिक गतिविधियों के लिए 1400 करोड़ की राशि दिलाई जा रही है। इसी के साथ यह भी निर्णय लिया गया है कि सरकारी खरीद का एक हिस्सा महिला स्व-सहायता समूहों के उत्पादों का होगा। साथ ही उनकी बनाई सामग्रियों को बाजार प्रदान करने तथा प्रोत्साहित करने के लिए शहरों में 'मॉल्स' में भी रखा जाएगा।   मुख्यमंत्री चौहान ने सोमवार को मंत्रालय से वीडियो कान्फ्रेंस द्वारा स्व-सहायता समूहों की महिलाओं के खातों में 150 करोड़ रुपए की ऋण राशि सिंगल क्लिक के माध्यम से अंतरित की। इस दौरान मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश में वर्तमान में 35 लाख बहनें स्व-सहायता समूहों से जुड़ी हैं तथा विभिन्न प्रकार की आर्थिक गतिविधियां सफलतापूर्वक संचालित कर रही हैं। इस बार बहनों को स्कूल गणवेश का कार्य दिया गया है। इसी के साथ कई स्थानों पर वे 'रेडी टू ईट' पोषण आहार का निर्माण भी कर रही हैं। हमें इस वर्ष 30 लाख और महिलाओं का आवश्यक प्रशिक्षण देकर स्व-सहायता समूहों से जोड़ना है। ये महिलाएं 'लोकल को वोकल बनाएंगी' तथा आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश का निर्माण करेंगी। इस अवसर पर पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री महेन्द्र सिंह सिसोदिया, स्कूल शिक्षा मंत्री इन्दर सिंह परमार, अपर मुख्य सचिव मनोज श्रीवास्तव आदि उपस्थित रहे।   मसूरी गईं आईएएस लोगों को पढ़ाने पंडोला, श्योपुर के बिस्मिल्ला स्व-सहायता समूह की मोबिना बहन ने बताया कि उनके समूह की महिलाएं अलग-अलग आर्थिक गतिविधियां कर रही हैं तथा हर सदस्य प्रतिमाह 15 से 20 हजार रुपए की मासिक आय कर रही है। पहले उन्हें बैंक से 50 हजार मिले, फिर 2 लाख जो कि उन्होंने वापस कर दिए। अब 3 लाख का लोन पास हो गया है। मोबिना स्व-सहायता समूहों के संबंध में आईएएस अधिकारियों को पढ़ाने मसूरी भी जा चुकी हैं।   बहनो इसी तरह आगे बढ़ती रहो बैतूल जिले के ग्राम राठीपुर के पलक आजीविका स्व-सहायता समूह की बहन दुर्गा पंवार ने मुख्यमंत्री चौहान को बताया कि पहले उन्हें 50 हजार रुपए का लोन लिया था अब 5 लाख का लोन लिया है। समूह दूध, सब्जी, मास्क निर्माण व सिलाई का कार्य करता है। अब पशु आहार बनाने की योजना है। मुख्यमंत्री ने कहा कि बहनो इसी तरह आगे बढ़ती रहो और प्रदेश का नाम रोशन करो।   'पहले चैक देखा ही नहीं था, अब चैक काट रही हूँ' मुख्यमंत्री चौहान को लक्ष्मी स्व-सहायता समूह ग्राम आमेठ जिला सागर की बहन द्रोपदी कुर्मी ने बताया कि उन्होंने 20 हजार रुपए की एक भैंस लेकर अपना काम चालू किया था अब 50-50 हजार की 04 भैंस बैंक लोन लेकर खरीदी है। आज उन्हें 1500 रुपए प्रतिदिन की आय होती है। उन्होंने मुख्यमंत्री को बताया कि 'पहले मैंने देखा नहीं था चैक कैसा होता है, आज चैक काट रही हूँ।'   सीता चलाती है 'मामा ब्यूटी पार्लर' आमेठ जिला सागर की स्व-सहायता समूह की बहन सीता कुर्मी ने मुख्यमंत्री चौहान को बताया कि वे गांव में ब्यूटी पार्लर चलाती हैं जिसका नाम उसने 'मामा ब्यूटी पार्लर' रखा है, क्योंकि उन्हें ब्यूटी पार्लर की ट्रेनिंग मुख्यमंत्री चौहान के पूर्व कार्यकाल वर्ष 2018 में मिली। 'आप ही मेरे प्रेरणा' स्त्रोत हैं। लक्ष्मी स्व-सहायता समूह ग्राम आमेठ जिला सागर की बहनों ने मुख्यमंत्री चौहान को अपना लिखा हुआ गीत सुनाया। 'देश संभालन आए हो, मेरे शिवराज भैया'।   बहनें करें ग्राम का विकास मुख्यमंत्री चौहान ने अनूपपुर जिले के अनुराधा स्व-सहायता समूह की बहन ऊषा राठौर से बातचीत के दौरान कहा कि बहनें न केवल आर्थिक गतिविधियों के माध्यम से गांव को स्वावलंबी एवं मध्यप्रदेश को आत्मनिर्भर बनाएं बल्कि ग्रामीण नेतृत्व में हिस्सा लेकर गांवों का विकास भी करें। बहन ऊषा ने मुख्यमंत्री चौहान को बताया कि पहले उन्होंने बैंक से एक लाख का ऋण लिया था, फिर दो लाख का और अब तीन लाख का ऋण लिया है। उनका समूह होटल, कृषि, अण्डे की दुकान, किराना दुकान, सब्जी उत्पादन, ट्रेक्टर संचालन आदि गतिविधियां करता है तथा प्रतिमाह 20 से 25 हजार रुपए कमाता है। इस पर मुख्यमंत्री चौहान ने बहनों को बधाई देते हुआ कहा कि 'यह है आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश का उदाहरण।'   न्यूनतम 10 हजार रुपए की मासिक आय लक्ष्य पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री महेन्द्र सिंह सिसोदिया ने कहा कि प्रदेश में स्व-सहायता समूहों को सशक्त बनाने के लिए सरकार अधिक से अधिक सहायता कर रही है। हमारा लक्ष्य है कि स्व-सहायता समूहों की प्रत्येक महिला को कम से कम 10 हजार रुपए की मासिक आमदनी हो सके।

Dakhal News

Dakhal News 23 November 2020


bhopal, Chief Minister ,puts 150 crore,account , women, self-help groups

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश सरकार की सबसे बड़ी प्राथमिकता महिलाओं का सशक्तीकरण है। इसके लिए सरकार उन्हें विभिन्न गतिविधियों के लिए 4 प्रतिशत ब्याज पर बैंकों से ऋण दिला रही है तथा शेष ब्याज की राशि मध्यप्रदेश सरकार भर रही है। उन्‍होंने कहा कि इस वर्ष महिलाओं को उनकी आर्थिक गतिविधियों के लिए 1400 करोड़ की राशि दिलाई जा रही है। इसी के साथ यह भी निर्णय लिया गया है कि सरकारी खरीद का एक हिस्सा महिला स्व-सहायता समूहों के उत्पादों का होगा। साथ ही उनकी बनाई सामग्रियों को बाजार प्रदान करने तथा प्रोत्साहित करने के लिए शहरों में 'मॉल्स' में भी रखा जाएगा।   मुख्यमंत्री चौहान ने सोमवार को मंत्रालय से वीडियो कान्फ्रेंस द्वारा स्व-सहायता समूहों की महिलाओं के खातों में 150 करोड़ रुपए की ऋण राशि सिंगल क्लिक के माध्यम से अंतरित की। इस दौरान मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश में वर्तमान में 35 लाख बहनें स्व-सहायता समूहों से जुड़ी हैं तथा विभिन्न प्रकार की आर्थिक गतिविधियां सफलतापूर्वक संचालित कर रही हैं। इस बार बहनों को स्कूल गणवेश का कार्य दिया गया है। इसी के साथ कई स्थानों पर वे 'रेडी टू ईट' पोषण आहार का निर्माण भी कर रही हैं। हमें इस वर्ष 30 लाख और महिलाओं का आवश्यक प्रशिक्षण देकर स्व-सहायता समूहों से जोड़ना है। ये महिलाएं 'लोकल को वोकल बनाएंगी' तथा आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश का निर्माण करेंगी। इस अवसर पर पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री महेन्द्र सिंह सिसोदिया, स्कूल शिक्षा मंत्री इन्दर सिंह परमार, अपर मुख्य सचिव मनोज श्रीवास्तव आदि उपस्थित रहे।   मसूरी गईं आईएएस लोगों को पढ़ाने पंडोला, श्योपुर के बिस्मिल्ला स्व-सहायता समूह की मोबिना बहन ने बताया कि उनके समूह की महिलाएं अलग-अलग आर्थिक गतिविधियां कर रही हैं तथा हर सदस्य प्रतिमाह 15 से 20 हजार रुपए की मासिक आय कर रही है। पहले उन्हें बैंक से 50 हजार मिले, फिर 2 लाख जो कि उन्होंने वापस कर दिए। अब 3 लाख का लोन पास हो गया है। मोबिना स्व-सहायता समूहों के संबंध में आईएएस अधिकारियों को पढ़ाने मसूरी भी जा चुकी हैं।   बहनो इसी तरह आगे बढ़ती रहो बैतूल जिले के ग्राम राठीपुर के पलक आजीविका स्व-सहायता समूह की बहन दुर्गा पंवार ने मुख्यमंत्री चौहान को बताया कि पहले उन्हें 50 हजार रुपए का लोन लिया था अब 5 लाख का लोन लिया है। समूह दूध, सब्जी, मास्क निर्माण व सिलाई का कार्य करता है। अब पशु आहार बनाने की योजना है। मुख्यमंत्री ने कहा कि बहनो इसी तरह आगे बढ़ती रहो और प्रदेश का नाम रोशन करो।   'पहले चैक देखा ही नहीं था, अब चैक काट रही हूँ' मुख्यमंत्री चौहान को लक्ष्मी स्व-सहायता समूह ग्राम आमेठ जिला सागर की बहन द्रोपदी कुर्मी ने बताया कि उन्होंने 20 हजार रुपए की एक भैंस लेकर अपना काम चालू किया था अब 50-50 हजार की 04 भैंस बैंक लोन लेकर खरीदी है। आज उन्हें 1500 रुपए प्रतिदिन की आय होती है। उन्होंने मुख्यमंत्री को बताया कि 'पहले मैंने देखा नहीं था चैक कैसा होता है, आज चैक काट रही हूँ।'   सीता चलाती है 'मामा ब्यूटी पार्लर' आमेठ जिला सागर की स्व-सहायता समूह की बहन सीता कुर्मी ने मुख्यमंत्री चौहान को बताया कि वे गांव में ब्यूटी पार्लर चलाती हैं जिसका नाम उसने 'मामा ब्यूटी पार्लर' रखा है, क्योंकि उन्हें ब्यूटी पार्लर की ट्रेनिंग मुख्यमंत्री चौहान के पूर्व कार्यकाल वर्ष 2018 में मिली। 'आप ही मेरे प्रेरणा' स्त्रोत हैं। लक्ष्मी स्व-सहायता समूह ग्राम आमेठ जिला सागर की बहनों ने मुख्यमंत्री चौहान को अपना लिखा हुआ गीत सुनाया। 'देश संभालन आए हो, मेरे शिवराज भैया'।   बहनें करें ग्राम का विकास मुख्यमंत्री चौहान ने अनूपपुर जिले के अनुराधा स्व-सहायता समूह की बहन ऊषा राठौर से बातचीत के दौरान कहा कि बहनें न केवल आर्थिक गतिविधियों के माध्यम से गांव को स्वावलंबी एवं मध्यप्रदेश को आत्मनिर्भर बनाएं बल्कि ग्रामीण नेतृत्व में हिस्सा लेकर गांवों का विकास भी करें। बहन ऊषा ने मुख्यमंत्री चौहान को बताया कि पहले उन्होंने बैंक से एक लाख का ऋण लिया था, फिर दो लाख का और अब तीन लाख का ऋण लिया है। उनका समूह होटल, कृषि, अण्डे की दुकान, किराना दुकान, सब्जी उत्पादन, ट्रेक्टर संचालन आदि गतिविधियां करता है तथा प्रतिमाह 20 से 25 हजार रुपए कमाता है। इस पर मुख्यमंत्री चौहान ने बहनों को बधाई देते हुआ कहा कि 'यह है आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश का उदाहरण।'   न्यूनतम 10 हजार रुपए की मासिक आय लक्ष्य पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री महेन्द्र सिंह सिसोदिया ने कहा कि प्रदेश में स्व-सहायता समूहों को सशक्त बनाने के लिए सरकार अधिक से अधिक सहायता कर रही है। हमारा लक्ष्य है कि स्व-सहायता समूहों की प्रत्येक महिला को कम से कम 10 हजार रुपए की मासिक आमदनी हो सके।

Dakhal News

Dakhal News 23 November 2020


bhopal, MP government, screws on Netflix, FIR registered, OTT managers

भोपाल। नेटफ्लिक्स पर चल रही वेब सीरीज ‘ए सुटेबल ब्वॉय’ में मध्यप्रदेश के मंदिरों के अंदर दिखाए गए चुंबन दृश्यों को लेकर प्रदेश की गृह विभाग ने सख्त कार्यवाई की है। गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने इस संबंध में आज सोमवार को अधिकारियों की बुलाई बैठक में नेटफ्लिक्स ओटीटी प्रबंधकों पर एफआईआर दर्ज करने के निर्देश दिए है।   बैठक में गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कानूनी रुप से चर्चा करने के बाद कहा कि नेटफ्लिक्स पर प्रसारित हो रहे कार्यक्रम द सूटेबल बॉय में फि़ल्माए जा रहे आपत्तिजनक दृश्यों से धर्म विशेष की भावनायें आहत होने का क़ानूनी परीक्षण करने के निर्देश पुलिस अधिकारियों को दिए गए थे। उन्होंने कहा कि परीक्षण में उक्त कृत्य से धर्म विशेष की भावनाएं आहत होना प्रथम दृष्टिया सही पाया गया। इस सम्बंध में थाना सिविल लाइन रीवा में धारा 295 का प्रकरण दर्ज किया जा रहा है। फ़रियादी गौरव तिवारी के आवेदन पर उक्त प्रकरण नेटफ्लिक्स के पदाधिकारी मोनिका शेरगिल एवं अम्बिका खुराना के विरूद्ध दर्ज किया गया है।   गौरतलब है कि बैठक से पहले भी गृहमंत्री ने मीडिया से चर्चा करते हुए कहा था कि उसमें मुझे कुछ भी सूटेबल नहीं लगा। हमारे मंदिरों के अंदर कोई भी चुम्बन का दृश्य फिल्माया जाये, उसको मैं अच्छा नहीं मानता। जो चीज़ टाली जा सकती है उसे क्यों नहीं टाल रहे हैं। मैं इसे अच्छा नहीं मानता ये गलत है, ये जहाँ भी होता है वहाँ पर गलत है।

Dakhal News

Dakhal News 23 November 2020


bhopal, MP government, screws on Netflix, FIR registered, OTT managers

भोपाल। नेटफ्लिक्स पर चल रही वेब सीरीज ‘ए सुटेबल ब्वॉय’ में मध्यप्रदेश के मंदिरों के अंदर दिखाए गए चुंबन दृश्यों को लेकर प्रदेश की गृह विभाग ने सख्त कार्यवाई की है। गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने इस संबंध में आज सोमवार को अधिकारियों की बुलाई बैठक में नेटफ्लिक्स ओटीटी प्रबंधकों पर एफआईआर दर्ज करने के निर्देश दिए है।   बैठक में गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कानूनी रुप से चर्चा करने के बाद कहा कि नेटफ्लिक्स पर प्रसारित हो रहे कार्यक्रम द सूटेबल बॉय में फि़ल्माए जा रहे आपत्तिजनक दृश्यों से धर्म विशेष की भावनायें आहत होने का क़ानूनी परीक्षण करने के निर्देश पुलिस अधिकारियों को दिए गए थे। उन्होंने कहा कि परीक्षण में उक्त कृत्य से धर्म विशेष की भावनाएं आहत होना प्रथम दृष्टिया सही पाया गया। इस सम्बंध में थाना सिविल लाइन रीवा में धारा 295 का प्रकरण दर्ज किया जा रहा है। फ़रियादी गौरव तिवारी के आवेदन पर उक्त प्रकरण नेटफ्लिक्स के पदाधिकारी मोनिका शेरगिल एवं अम्बिका खुराना के विरूद्ध दर्ज किया गया है।   गौरतलब है कि बैठक से पहले भी गृहमंत्री ने मीडिया से चर्चा करते हुए कहा था कि उसमें मुझे कुछ भी सूटेबल नहीं लगा। हमारे मंदिरों के अंदर कोई भी चुम्बन का दृश्य फिल्माया जाये, उसको मैं अच्छा नहीं मानता। जो चीज़ टाली जा सकती है उसे क्यों नहीं टाल रहे हैं। मैं इसे अच्छा नहीं मानता ये गलत है, ये जहाँ भी होता है वहाँ पर गलत है।

Dakhal News

Dakhal News 23 November 2020


Bhopal: Laxman Singh, lashed out , Computer Baba, released from jail

भोपाल/इंदौर। 11 दिन जेल में बिताने के बाद कम्प्यूटर बाबा गुरुवार शाम जमानत पर रिहा हुए। जेल से निकलते ही बाबा हरिद्वार रवाना हो गए। उनके इस तरह हरिद्वार जाने पर दिग्विजय सिंह के भाई और कांग्रेस नेता लक्ष्मणसिंह ने तंज कसा है। उन्होंने कहा है कि अगर बाबा पहले ही हरिद्वार चले जाते तो राजनीति का बेड़ा पार नहीं होता।    कम्प्यूटर बाबा को सभी मामलों में कोर्ट से जमानत मिलने के बाद गुरुवार देर शाम उन्हें रिहा कर दिया गया था। 11 दिन बाद बाबा जेल से बाहर आए।  गेट के पास ही मीडिया ने उनसे कई सवाल पूछे, लेकिन उन्होंने कहा, मुझे कुछ नहीं कहना। उन्होंने इतना ही कहा कि वकीलों और सबका धन्यवाद। भगवान ने सत्य की जीत की है। इसके बाद कुछ दूर खड़ी कार में सवार हाेकर बाबा निकल गए। बाबा के वकील विभोर खंडेलवाल के बताया कि रिहाई के बाद बाबा सीधे हरिद्वार चले गए। बाबा ने कहा था कि जेल में वे ठीक से पूजा-पाठ नहीं कर पाए, इसलिए 15 दिन हरिद्वार में रहकर पूजन करेंगे। फिर वे कुछ यात्राएं करेंगे। खंडेलवाल की मानें, तो बाबा अन्य देवस्थान पर भी जाएंगे। करीब 1 महीने तो वो भक्ति में ही लीन रहेंगे।    बाबा के हरिद्वार जाने पर कांग्रेस नेता लक्ष्मणसिंह ने ट्विटर के जरिए तंज कसा है। उन्होंने कहा है- 'जेल से छूटते ही बाबा चले हरिद्वार, पहले चले जाते तो राजनीति का नहीं होता बेड़ा पार, अभी भी कुछ बचे हैं, जो आगे दे सकते हैं नुकसान, कार्यकर्ताओं की भावना है, इस बात का लिया जाए संज्ञान...।'   बाबा के वकील के अनुसार बाबा के खिलाफ चार मामले दर्ज किए गए थे। 8 नवंबर को धारा 151 के तहत बाबा को जेल भेजा गया था। इसके बाद 12 नवंबर को गांधी नगर में एक मामला दर्ज हुआ। इसके बाद एरोड्रम थाने में एक और केस दर्ज हुआ। इसके बाद 17 नवंबर को बाबा को एरोड्रम मामले में भी जमानत मिल गई। वहीं, उसी दिन उनके खिलाफ एक और केस गांधी नगर थाने में दर्ज हुआ था।

Dakhal News

Dakhal News 20 November 2020


bhopal, Narottam accuses, Congress appease politics, target Kamal Nath

भोपाल। मध्य प्रदेश सरकार लव-जिहाद के खिलाफ कानून बनाने जा रही है। लव-जिहाद पर कानून बनाने जा रही शिवराज सरकार के फैसले पर अलग-अलग प्रतिक्रियाएं आ रही हैं। कांग्रेस के कई नेताओं ने इस कानून का विरोध किया है। कांग्रेस नेताओं द्वारा कानून का विरोध किए जाने पर मध्य प्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने पलटवार किया है।   गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने शुक्रवार को मीडिया से बातचीत करते हुए कांग्रेस नेताओं को जमकर लताड़ा और तुष्टिकरण की राजनीति करने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि कोई भी पढ़ा-लिखा और समझदार व्यक्ति किसी भी प्रकार के जिहाद का समर्थन नहीं करेगा। कांग्रेस तो तुष्टिकरण की राजनीति करती है इसलिए उसकी बात अलग है। लेकिन देश में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी के राज में कोई जिहाद या आतंकवाद नहीं चलने दिया जाएगा। गौरतलब है कि पूर्व मंत्री पीसी शर्मा ने लव जिहाद कानून का विरोध करते हुए कहा था कि सरकार विधानसभा अध्यक्ष तो चुन नहीं पा रही। लेकिन इस तरह के कानून बनाने में जुटी है। जो एक दूसरे को बांटने का काम करने वाला है।   कमलनाथ पर साधा निशानाइस दौरान पूर्व सीएम कमलनाथ पर निशाना साधते हुए मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि ‘कमलनाथ जी प्रदेश कांग्रेस के ऐसे एक मात्र अध्यक्ष हैं जिन्होंने मुख्यमंत्री रहते हुए भी पूरे राज्य का दौरा नहीं किया। कई विधानसभा क्षेत्रों में तो वे आज तक नहीं गए हैं।   कोरोना के बढ़ते मामले चिंता का विषयमध्य प्रदेश में इन दिनों बढ़ते कोरोना संक्रमण के मामले और नई गाइडलाइन पर मंत्री मिश्रा ने कहा कि प्रदेश में कोविड 19 के बढ़ते मामले चिंता का विषय हैं। इस समय हर नागरिक को सावधान रहने की जरूरत है। सरकार ने सावधानी और सुरक्षा के लिहाज से सारे विकल्प खुले रखे हैं। इस संबंध में गृह विभाग सभी जरूरी निर्णय आज शाम तक लेगा।

Dakhal News

Dakhal News 20 November 2020


bhopal, Madhya Pradesh ,will not have lockdown, Chief Minister Shivraj

भोपाल। मध्य प्रदेश में बीते दो दिनों से कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शुक्रवार को उच्च स्तरीय बैठक की। इसे लेकर मीडिया में अटकलें लगनी शुरू हो गईं कि प्रदेश में लॉकडाउन लग सकता है। सोशल मीडिया के साथ ही कई वेबसाइट्स में इस तरह की खबरें प्रसारित भी कर दीं लेकिन मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने इन खबरों का खंडन किया है। उन्होंने कहा है कि प्रदेश में लॉकडाउन नहीं किया जाएगा। उल्लेखनीय है कि भोपाल, इंदौर, रतलाम समेत प्रदेश के कई शहरों में दीपावली के बाद अचानक कोरोना के मरीजों की संख्या बढ़ गई है। इसी को देखते हुए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शुक्रवार को आला अधिकारियों की बैठक बुलाकर हालात का जायजा लिया। इस बीच मीडिया में खबरें चलाई जाने लगीं कि कोरोना के बढ़त मामलों को देखते हुए मध्य प्रदेश में लॉकडाउन लग सकता है। मुख्यमंत्री उच्च स्तरीय बैठक में इसका निर्णय ले सकते हैं। लेकिन शुक्रवार की शाम मुख्यमंत्री कार्यालय ने ट्वीट के माध्यम से लॉकडाउन की खबरों का खंडन किया है। बताया गया है कि कतिपय सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का कर्फ्यू लगाने संबंधी बयान वायरल हो रहा है, जो वर्तमान परिप्रेक्ष्य में पूर्ण रूप से अप्रासंगिक है। इससे पहले प्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने ट्वीट किया था कि राज्य में कोविड-19 के बढ़ते मामले चिंता का विषय है। इस समय हर नागरिक को सावधान रहने की जरूरत है। सरकार ने सावधानी और सुरक्षा के लिहाज से सारे विकल्प खुले रखे हैं। इस संबंध में गृह विभाग सभी जरूरी निर्णय आज शाम तक लेगा। मध्य प्रदेश की आर्थिक राजधानी इंदौर से खबर है कि कोरोना रोकथाम के मद्देनजर शुक्रवार से नगर निगम मास्क नहीं पहनने वालों पर फिर कार्रवाई शुरू हो गई है। मास्क नहीं पहनने वालों के खिलाफ चालानी कार्रवाई की जा रही है। निगमायुक्त प्रतिभा पाल ने इस संबंध में आदेश जारी किए हैं। अपर आयुक्त देवेंद्र सिंह को आदेश का पालन सुनिश्चित कराने को कहा गया है।

Dakhal News

Dakhal News 20 November 2020


bhopal, Madhya Pradesh ,will not have lockdown, Chief Minister Shivraj

भोपाल। मध्य प्रदेश में बीते दो दिनों से कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शुक्रवार को उच्च स्तरीय बैठक की। इसे लेकर मीडिया में अटकलें लगनी शुरू हो गईं कि प्रदेश में लॉकडाउन लग सकता है। सोशल मीडिया के साथ ही कई वेबसाइट्स में इस तरह की खबरें प्रसारित भी कर दीं लेकिन मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने इन खबरों का खंडन किया है। उन्होंने कहा है कि प्रदेश में लॉकडाउन नहीं किया जाएगा। उल्लेखनीय है कि भोपाल, इंदौर, रतलाम समेत प्रदेश के कई शहरों में दीपावली के बाद अचानक कोरोना के मरीजों की संख्या बढ़ गई है। इसी को देखते हुए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शुक्रवार को आला अधिकारियों की बैठक बुलाकर हालात का जायजा लिया। इस बीच मीडिया में खबरें चलाई जाने लगीं कि कोरोना के बढ़त मामलों को देखते हुए मध्य प्रदेश में लॉकडाउन लग सकता है। मुख्यमंत्री उच्च स्तरीय बैठक में इसका निर्णय ले सकते हैं। लेकिन शुक्रवार की शाम मुख्यमंत्री कार्यालय ने ट्वीट के माध्यम से लॉकडाउन की खबरों का खंडन किया है। बताया गया है कि कतिपय सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का कर्फ्यू लगाने संबंधी बयान वायरल हो रहा है, जो वर्तमान परिप्रेक्ष्य में पूर्ण रूप से अप्रासंगिक है। इससे पहले प्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने ट्वीट किया था कि राज्य में कोविड-19 के बढ़ते मामले चिंता का विषय है। इस समय हर नागरिक को सावधान रहने की जरूरत है। सरकार ने सावधानी और सुरक्षा के लिहाज से सारे विकल्प खुले रखे हैं। इस संबंध में गृह विभाग सभी जरूरी निर्णय आज शाम तक लेगा। मध्य प्रदेश की आर्थिक राजधानी इंदौर से खबर है कि कोरोना रोकथाम के मद्देनजर शुक्रवार से नगर निगम मास्क नहीं पहनने वालों पर फिर कार्रवाई शुरू हो गई है। मास्क नहीं पहनने वालों के खिलाफ चालानी कार्रवाई की जा रही है। निगमायुक्त प्रतिभा पाल ने इस संबंध में आदेश जारी किए हैं। अपर आयुक्त देवेंद्र सिंह को आदेश का पालन सुनिश्चित कराने को कहा गया है।

Dakhal News

Dakhal News 20 November 2020


bhopal, CM Shivraj attended , last rites ,father-in-law ,Ghanshyam Masani

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने गुरुवार को गोंदिया में अपने ससुर और समाजसेवी  घनश्याम दास मसानी के अंतिम संस्कार में शामिल होकर उन्हें श्रद्धांजलि दी। इस  दौरान मुख्यमंत्री ने कहा कि गत 28-29 वर्ष में उन्होंने कभी भी घनश्याम दास जी के व्यवहार में अहंकार को नहीं देखा। वे निष्काम और पावन हृदय से जीवन जीते हुए सभी के प्रति सदाशायी  बने रहे। जीवन के आखिरी क्षण तक उनके चेहरे पर सौम्य और सरल, सहज होने के भाव परिलक्षित होते थे।   मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि जब वे चौथी बार मुख्यमंत्री बने उसके पूर्व श्री मसानी भोपाल आए थे और शारीरिक अस्वस्थता के बावजूद सामान्य रूप से चर्चा करते थे। उन्होंने कहा कि वे जब खुद कोविड-19 से ग्रस्त होने पर अस्पताल में दाखिल थे तब उन्हें श्री मसानी के अस्वस्थ होने की सूचना देर से मिली थी और उसके पश्चात श्री मसानी अस्पताल में उपचार लाभ प्राप्त कर घर  भी आ गए थे। उन्होंने बीमारियों से लड़ते हुए अपनी जिजीविषा बनाए रखी। राष्ट्रवादी विचारधारा के प्रबल समर्थक मसानी जी 88 वर्ष की आयु में भी वैचारिक रूप से सक्रिय थे। वे व्हीलचेयर पर थे लेकिन हाल ही में दीपावली पूजा में भी शामिल हुए। मुख्यमंत्री ने कहा कि उनका स्नेह उन्हें जीवन भर मिला। ऐसे सहृदय सरल व्यक्तित्व के धनी स्व मसानी अपनी विशेष पहचान छोड़ गए हैं। मुख्यमंत्री ने स्व मसानी की आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना की ।   अंतिम संस्कार में शामिल हुए समाजसेवी, अधिकारी और नागरिकसीएम शिवराज, उनकी धर्मपत्नी साधना सिंह और अन्य परिजन प्रात: गोंदिया पहुंचे। इसके साथ ही स्व श्री मसानी की पार्थिव देह को लेकर आज प्रात: एयर एम्बुलेंस गोंदिया पहुंची। अपरान्ह 4 बजे स्व श्री मसानी जी का गोंदिया पिंडकेपार स्थित मोक्षधाम में अंतिम संस्कार किया गया। अंतिम संस्कार में बड़ी संख्या में स्थानीय नागरिक, समाजसेवी और अधिकारी शामिल हुए। बालाघाट रेंज के पुलिस महानिरीक्षक के पी व्यंकटेश्वर राव सहित कलेक्टर और एस पी बालाघाट भी शामिल हुए।

Dakhal News

Dakhal News 19 November 2020


bhopal, CM Shivraj attended , last rites ,father-in-law ,Ghanshyam Masani

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने गुरुवार को गोंदिया में अपने ससुर और समाजसेवी  घनश्याम दास मसानी के अंतिम संस्कार में शामिल होकर उन्हें श्रद्धांजलि दी। इस  दौरान मुख्यमंत्री ने कहा कि गत 28-29 वर्ष में उन्होंने कभी भी घनश्याम दास जी के व्यवहार में अहंकार को नहीं देखा। वे निष्काम और पावन हृदय से जीवन जीते हुए सभी के प्रति सदाशायी  बने रहे। जीवन के आखिरी क्षण तक उनके चेहरे पर सौम्य और सरल, सहज होने के भाव परिलक्षित होते थे।   मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि जब वे चौथी बार मुख्यमंत्री बने उसके पूर्व श्री मसानी भोपाल आए थे और शारीरिक अस्वस्थता के बावजूद सामान्य रूप से चर्चा करते थे। उन्होंने कहा कि वे जब खुद कोविड-19 से ग्रस्त होने पर अस्पताल में दाखिल थे तब उन्हें श्री मसानी के अस्वस्थ होने की सूचना देर से मिली थी और उसके पश्चात श्री मसानी अस्पताल में उपचार लाभ प्राप्त कर घर  भी आ गए थे। उन्होंने बीमारियों से लड़ते हुए अपनी जिजीविषा बनाए रखी। राष्ट्रवादी विचारधारा के प्रबल समर्थक मसानी जी 88 वर्ष की आयु में भी वैचारिक रूप से सक्रिय थे। वे व्हीलचेयर पर थे लेकिन हाल ही में दीपावली पूजा में भी शामिल हुए। मुख्यमंत्री ने कहा कि उनका स्नेह उन्हें जीवन भर मिला। ऐसे सहृदय सरल व्यक्तित्व के धनी स्व मसानी अपनी विशेष पहचान छोड़ गए हैं। मुख्यमंत्री ने स्व मसानी की आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना की ।   अंतिम संस्कार में शामिल हुए समाजसेवी, अधिकारी और नागरिकसीएम शिवराज, उनकी धर्मपत्नी साधना सिंह और अन्य परिजन प्रात: गोंदिया पहुंचे। इसके साथ ही स्व श्री मसानी की पार्थिव देह को लेकर आज प्रात: एयर एम्बुलेंस गोंदिया पहुंची। अपरान्ह 4 बजे स्व श्री मसानी जी का गोंदिया पिंडकेपार स्थित मोक्षधाम में अंतिम संस्कार किया गया। अंतिम संस्कार में बड़ी संख्या में स्थानीय नागरिक, समाजसेवी और अधिकारी शामिल हुए। बालाघाट रेंज के पुलिस महानिरीक्षक के पी व्यंकटेश्वर राव सहित कलेक्टर और एस पी बालाघाट भी शामिल हुए।

Dakhal News

Dakhal News 19 November 2020


bhopal, Higher education minister, big statement ,about guest teachers

भोपाल। अतिथि शिक्षकों को लेकर मध्य प्रदेश के उच्च शिक्षा मंत्री मोहन यादव ने बड़ा बयान दिया है। गुरुवार को मीडिया से बातचीत करते हुए उन्होंने कहा कि विभाग द्वारा अतिथि शिक्षकों को पुन: काम देने की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है। इसके अलावा प्रदेश में शिक्षा प्रभावित न हो इसके लिए पीएससी के माध्यम से असिस्टेंट प्रोफेसर पदों पर नियुक्तियां की जाएगी।   अतिथि शिक्षकों को लेकर उच्च शिक्षा मंत्री ने कहा कि अतिथि विद्वानों से महाविद्यालयों और विवि में अध्ययन अध्यापन में को लेकर हमने बडे निर्णय लिए है। उसमें एक बड़ा निर्णय पीएससी की भर्ती का निर्णय लिया है। हम अधिकतर अतिथि शिक्षकों को काम पर ले चुके हैं और जो बाकी बचे लोग हैं उनके लिए भी हमने अभी 2 दिन पहले एक लिंक ओपन की है।  जिन को परमानेंट पद पर रखना है उनके लिए भी निर्णय लिया गया है। उन्होंने कहा कि प्राध्यापकों की कमी के चलते विद्यार्थियों को जो परेशानी हो रही है उसका भी जल्द ही हम निराकरण कर रहे हैं। मंत्री मोहन यादव ने कहा कि साथ ही पीएससी के माध्यम से जो उम्मीदवार सभी योग्यता रखते है उन्हें असिस्टेंट प्रोफेर की भर्ती कर निर्णय ले चुके है। पांच प्रतिशत पोस्ट पीएससी के माध्यम से भरने वाले है।

Dakhal News

Dakhal News 19 November 2020


bhopal,Chief Minister Chauhan, will inaugurate ,"Tigress on the Trail"

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान गुरूवार, 19 नवम्बर को मुख्यमंत्री निवास पर प्रदेश में पर्यटन गतिविधियों विशेषकर महिलाओं के लिए साहसिक एवं सुरक्षित पर्यटन को बढ़ावा देने के उद्देश्य से प्रथम महिला बाइकिंग ट्रेल (Tigress on the trail) कार्यक्रम का शुभारंभ करेंगे। ट्रेल में देश भर से नामी 15 महिला बाइकर्स द्वारा 1500 कि.मी. का सफर भोपाल से प्रारम्भ कर मढ़ई, पेंच, कान्हा, बान्धवगढ, पन्ना एवं खजुराहो से होते हुए वापस भोपाल तक का सफर तय किया जायेगा।   पर्यटन विभाग के प्रमुख सचिव शिव शेखर शुक्ला ने बुधवार को बताया कि इस आयोजन का उद्देश्य सभी पर्यटकों को यह विश्वास दिलाना है कि मध्यप्रदेश “एकल महिला यात्री” (solo woman traveller) के लिए पूर्णत: सुरक्षित गंतव्य है, जहां साहसिक पर्यटन की अपार सम्भावनाएं उपलब्ध हैं। मध्यप्रदेश टूरिज्म बोर्ड राज्य में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए नवाचारों को क्रियान्वित करने में सदैव अग्रणी रहा है। पर्यटकों में पर्यटन के प्रति विश्वास जागृत करने तथा राज्य के प्रमुख वन्य जीव पर्यटन स्थलों जैसे मढ़ई, पेंच, कान्हा, बान्धवगढ, पन्ना के साथ साथ राज्य के समस्त राष्ट्रीय उद्यान की विशेषताओं से पर्यटकों को अवगत कराने तथा प्रदेश में पर्यटन गतिविधियों विशेषकर महिलाओं के लिए साहसिक एवं सुरक्षित पर्यटन को बढ़ावा देने के उद्देश्य से प्रथम महिला बाइकिंग ट्रेल “टाइग्रेस ऑन द ट्रेल” का आयोजन 19 नवम्बर से 25 नवम्बर 2020 तक किया जाएगा।   प्रमुख सचिव शुक्ला ने बताया कि यात्रा मार्ग इस तरह से तैयार किया गया है जिससे प्रतिभागी रास्ते में आने वाले पर्यटन स्थलों की खूबसूरत वादियों का पूर्ण रूप से आनंद ले सकें, ये राइडर्स राज्य के मनोरम दृश्यों का आनंद लेते हुए यात्रा के रोमांच का अनुभव कर सकें तथा पर्यटकों को मध्यप्रदेश के आकर्षक गंतव्यों का परिचय कराते हुए इन पर्यटन स्थलों के सुगम व सुरक्षित होने की जानकारी पर्यटकों को प्रदान कर सकें।   महिला बाइकर्स प्रतिभागी 'टाइग्रेस ऑन द ट्रेल' में राष्ट्रीय स्तर की 15 प्रतिष्ठित महिला बाइकर्स द्वारा भागीदारी की जा रही है। इनमें मुंबई, इटली, भुवनेश्वर, तमिलनाडू, इंदौर, पश्चिम बंगाल, पंजाब, पुणे, पटना-बिहार और बैंगलुरू की महिला बाइकर्स शामिल हैं। ये सभी महिला बाइकर्स लंबा अनुभव लिये हुए हैं। इन महिला बाइकर्स द्वारा वन्य जीव संरक्षण, साहसिक पर्यटन का विकास तथा पर्यावरण एवं स्वास्थ्य के प्रति जागरूकता का संदेश यात्रा के दौरान दिये जायेंगे।

Dakhal News

Dakhal News 18 November 2020


bhopal, Home Minister, big statement , cow cabinet, targeted ,Kamal Nath and Congress

भोपाल। मध्य प्रदेश सरकार ने गोधन संरक्षण व संवर्धन के लिए 'गौकैबिनेट' गठित करने का निर्णय लिया है। पशुपालन, वन, पंचायत व ग्रामीण विकास, राजस्व, गृह और किसान कल्याण विभाग गौ कैबिनेट में शामिल होंगे। पहली बैठक 22 नवंबर को गोपाष्टमी पर दोपहर 12 बजे गौ अभ्यारण, आगर मालवा में आयोजित की जाएगी। गौ कैबिनेट को लेकर प्रदेश के गृह एवं जेल मंत्री नरोत्तम मिश्रा का बड़ा बयान सामने आया है।   गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने बुधवार को मीडिया से बातचीत करते हुए गौ कैबिनेट पर कहा कि ‘"तीन हमारे सुखदाता,गीता-गंगा-गौमाता"। @BJPyIndia हमेशा भारतीय संस्कृति की पोषक रही है। इसी भावना से प्रेरित होकर सरकार ने अलग से गौ कैबिनेट का गठन करने का निर्णय लिया है। प्रदेश की पूर्ववर्ती कांग्रेस सरकार गौ शालाओं के गठन की सिर्फ बातें करती रही इस दिशा में अनुकरणीय निर्णय मप्र भाजपा सरकार ने लिया है।   कमलनाथ पर कसा तंजइस दौरान पूर्व सीएम कमलनाथ पर तंज कसते हुए मंत्री मिश्रा ने कहा कि प्रदेश में विधानसभा उपचुनाव के नतीजे सामने आने के बाद से प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ जी नजर नहीं आ रहे हैं। मैंने पहले ही कहा था वे चुनाव के बाद प्रदेश से रुखसत हो जाएंगे। अब ट्विटर पर ही नजर आएंगे। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी.चिदंबरम जी ने वही हकीकत बयां की है जो मैं पहले कई बार दोहरा चुका हूं। कांग्रेस में अब सिर्फ नेता ही बचे हैं। मैदानी कार्यकर्ता नदारद हो चुके हैं। यही हाल रहा तो कांग्रेस मप्र में अगली बार मुख्य विपक्षी दल भी नहीं बन पाएगी। उन्होंने कहा कि भाजपा का मुलाबला अब कांग्रेस से नहीं होगा गठबंधन से ही होगी। कांग्रेस के हार पर मंथन को लेकर कहा कि कुछ भी कर ले विष ही निकलेगा, अमृत नहीं निकलेगा   सुंदरकांड कांग्रेस का स्टंटकमलनाथ के जन्मदिन पर कांग्रेस द्वारा करवाए जा रहे सुंदरकांड पर प्रतिक्रिया देते हुए गृहमंत्री ने कहा कि सुंदरकांड का आयोजन कांग्रेस का सॉफ्ट हिन्दुत्व नहीं सिर्फ स्टंट है। उन्होंने कहा कि राहुल गांधी कभी भी दिवाली, भाईदूज मनाते नहीं दिखते। कमलनाथ गोधन के बारे में नहीं जानते।    दोबारा लॉकडाउन का कोई प्रस्ताव नहींवहीं प्रदेश में फिर से लॉकडाउन की सुगबुगाहट पर मंत्री मिश्रा ने कहा कि प्रदेश में कोविड 19 को लेकर स्थिति पूरी तरह से नियंत्रण में है। सरकार इस संबंध में हर स्तर पर सजग और तैयार है। अभी प्रदेश में कहीं भी किसी भी स्तर पर दोबारा लॉकडाउन लागू करने का कोई प्रस्ताव विचाराधीन नहीं है।   धर्म विशेष से जुड़ा नहीं है लव जिहाद कानूनइस दौरान लव जिहाद कानून पर मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि यह कानूर किसी भी धर्म विशेष से जुड़ा नहीं है। कोई भी अगर लालच देकर विवाह करता है तो 5 साल का कठोर कारावास होगा। धर्म स्वतंत्र विधयेक है। उन्होंने कांग्रेस से सवाल पूछते हुए कहा कि कांग्रेस बताए विधेयक के साथ हैं या खिलाफ हैं।

Dakhal News

Dakhal News 18 November 2020


bhopal, State government ,will create

भोपाल। मध्य प्रदेश सरकार ने गोधन संरक्षण व संवर्धन के लिए 'गौकैबिनेट' गठित करने का निर्णय लिया गया है। इस बात की जानकारी मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने बुधवार सुबह ट्वीट कर दी है।   मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट कर लिखा ‘प्रदेश में गोधन संरक्षण व संवर्धन के लिए 'गौकैबिनेट' गठित करने का निर्णय लिया गया है। पशुपालन, वन, पंचायत व ग्रामीण विकास, राजस्व, गृह और किसान कल्याण विभाग गौ कैबिनेट में शामिल होंगे। पहली बैठक 22 नवंबर को गोपाष्टमी पर दोपहर 12 बजे गौ अभ्यारण, आगर मालवा में आयोजित की जाएगी।

Dakhal News

Dakhal News 18 November 2020


bhopal,Computer Baba, got relief , one case, remanded for one day

भोपाल। कमलनाथ सरकार में राज्य मंत्री का दर्जा प्राप्त रहे नामदेव त्यागी उर्फ कम्प्यूटर बाबा की मुसीबत कम नही हुई है। गांधीनगर पुलिस थाने में दर्ज प्रकरण में हाईकोर्ट के आदेश के बाद एट्रोसिटी एक्ट सहित दो मामलों में पुलिस ने निचली अदालत में सोमवार शाम को पेश किया। जहां उन्हें जमानत मिल गई लेकिन एरोड्रम पुलिस थाने में दर्ज प्रकरण में उन्हें 24 घंटे की रिमांड पर पुलिस को सौंप दिया गया। मंगलवार शाम 4 बजे दोबारा उन्हें कोर्ट में पेश किया जाएगा। एट्रोसिटी एक्ट मामले में तो बाबा को कोर्ट ने 25 हजार के मुचलके पर जमानत मिल गई, लेकिन धारा 151 में दर्ज प्रकरण में बाबा के समर्थक जेल अधीक्षक के समक्ष 50 हजार रुपये का निजी मुचलका लेकर पहुंचे, लेकिन उन्होंने इसे स्वीकारा नहीं। एरोड्रम थाने में दर्ज मारपीट के मामले में पुलिस ने कोर्ट से दो दिन का रिमांड मांगी, जिसमें से पुलिस को एक दिन की रिमांड मिल गई। सरकारी जमीन पर अतिक्रमण किए जाने के मामले के बाद पुलिस ने दो और केस उन पर दर्ज किए थे। अब एरोड्रम थाना पुलिस अब मंगलवार शाम चार बजे बाबा की एक बार फिर जिला अदालत में पेशी होगी। उन पर शासकीय काम में बाधा डालने, जान से मारने की धमकी देने, मारपीट की भी धाराएं लगी हैं। गौरतलब है कि आठ नवंबर को जिला प्रशासन ने सरकारी जमीन पर बाबा द्वारा अवैध तरीके से बनाए गए आश्रम को ध्वस्त किया था। कार्रवाई के दौरान शांति भंग होने की आशंका में बाबा और उनके समर्थकों को गिरफ्तार किया गया था। 9 नवंबर को एसडीएम अदालत से समर्थकों को तो जमानत मिल गई लेकिन कंप्यूटर बाबा जेल में ही है। जेल में रहने के दौरान ही बाबा के खिलाफ एरोड्रम पुलिस थाने में घर में घुसकर हमला करने और गांधीनगर पुलिस थाने में जातिसूचक शब्दों का इस्तेमाल करने के आरोप में दो अलग-अलग प्रकरण दर्ज हो गए।

Dakhal News

Dakhal News 17 November 2020


bhopal,Computer Baba, got relief , one case, remanded for one day

भोपाल। कमलनाथ सरकार में राज्य मंत्री का दर्जा प्राप्त रहे नामदेव त्यागी उर्फ कम्प्यूटर बाबा की मुसीबत कम नही हुई है। गांधीनगर पुलिस थाने में दर्ज प्रकरण में हाईकोर्ट के आदेश के बाद एट्रोसिटी एक्ट सहित दो मामलों में पुलिस ने निचली अदालत में सोमवार शाम को पेश किया। जहां उन्हें जमानत मिल गई लेकिन एरोड्रम पुलिस थाने में दर्ज प्रकरण में उन्हें 24 घंटे की रिमांड पर पुलिस को सौंप दिया गया। मंगलवार शाम 4 बजे दोबारा उन्हें कोर्ट में पेश किया जाएगा। एट्रोसिटी एक्ट मामले में तो बाबा को कोर्ट ने 25 हजार के मुचलके पर जमानत मिल गई, लेकिन धारा 151 में दर्ज प्रकरण में बाबा के समर्थक जेल अधीक्षक के समक्ष 50 हजार रुपये का निजी मुचलका लेकर पहुंचे, लेकिन उन्होंने इसे स्वीकारा नहीं। एरोड्रम थाने में दर्ज मारपीट के मामले में पुलिस ने कोर्ट से दो दिन का रिमांड मांगी, जिसमें से पुलिस को एक दिन की रिमांड मिल गई। सरकारी जमीन पर अतिक्रमण किए जाने के मामले के बाद पुलिस ने दो और केस उन पर दर्ज किए थे। अब एरोड्रम थाना पुलिस अब मंगलवार शाम चार बजे बाबा की एक बार फिर जिला अदालत में पेशी होगी। उन पर शासकीय काम में बाधा डालने, जान से मारने की धमकी देने, मारपीट की भी धाराएं लगी हैं। गौरतलब है कि आठ नवंबर को जिला प्रशासन ने सरकारी जमीन पर बाबा द्वारा अवैध तरीके से बनाए गए आश्रम को ध्वस्त किया था। कार्रवाई के दौरान शांति भंग होने की आशंका में बाबा और उनके समर्थकों को गिरफ्तार किया गया था। 9 नवंबर को एसडीएम अदालत से समर्थकों को तो जमानत मिल गई लेकिन कंप्यूटर बाबा जेल में ही है। जेल में रहने के दौरान ही बाबा के खिलाफ एरोड्रम पुलिस थाने में घर में घुसकर हमला करने और गांधीनगर पुलिस थाने में जातिसूचक शब्दों का इस्तेमाल करने के आरोप में दो अलग-अलग प्रकरण दर्ज हो गए।

Dakhal News

Dakhal News 17 November 2020


bhopal,Hyderabad, Tirupati Balaji ,arrive ,new plane, CM Shivraj family

भोपाल। मध्य प्रदेश सरकार के नए विमान ने सोमवार को पहली बार उड़ान भरी। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान नए शासकीय विमान से सोमवार देर शाम परिवार सहित तिरुपति के लिए रवाना हुए। उनके साथा पत्नी साधना सिंह और बेटे कार्तिकेय और कुणाल भी मौजूद रहे। उपचुनाव में मिली शानदार जीत के बाद सीएम शिवराज परिवार के साथ तिरुपति बालाजी में भगवान व्यंकटेश की पूजा अर्चना करेंगे। इसके बाद मंगलवार रात 10 बजे भोपाल वापस आ जाऐंगे।   बता दें कि राज्य सरकार ने क्राफ्ट कंपनी से किंग एयर बी-250 विमान कस्टम ड्यूटी मिलाकर करीब 60 करोड़ रुपए में खरीदा है। अत्याधुनिक और हाईसेफ्टी टेक्निक से लैस इस विमान में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान अपने परिवार के साथ तिरुपति रवाना हुए। नए विमान से मुख्यमंत्री की यह पहली यात्रा पर हैं। वे हर साल तिरुपति दर्शन करने जाते हैं। सोमवार देर रात हैदराबाद एयरपोर्ट पर पहुंचने के बाद वो शमशाबाद में ग्राम मुचीनतल स्थित श्री चिन्ना जीयर स्वामी आश्रम में रुके। यहां सीएम शिवराज स्थानीय कार्यक्रम में शामिल हुए और रात्रि विश्राम वहीं किया था। इसके बाद वे मंगलवार 17 नवंबर को धार्मिक अनुष्ठान करेंगे। इसके बाद वे तिरुपति बालाजी मंदिर में भगवान व्यंकटेश की आराधना करने जाएंगे। चौहान परिवार के साथ ही 17 नवंबर को रात 10 बजे भोपाल भी पहुंच जाएंगे।

Dakhal News

Dakhal News 17 November 2020


Indore, Computer Baba ,jail or will be bail, hearing today

इंदौर। जेल में बंद कम्प्यूटर बाबा और उनके समर्थक जमानत के लिए जीतोड़ कोशिशें कर रहे हैं। इसके लिए हर अदालत का दरवाजा खटखटाया जा रहा है। जेल में ही दीपावली मनाने के बाद अब कम्प्यूटर बाबा ने जमानत के लिए अपने प्रयास तेज कर दिए हैं। इसी तारतम्य में बाबा की ओर से आज जिला न्यायालय में आवेदन दिया जाएगा। बाबा के खिलाफ एरोड्रम और गांधी नगर पुलिस थाने में दर्ज केस में सोमवार को जिला न्यायालय में जमानत आवेदन पर सुनवाई होगी। न्यायालय सोमवार को ही इस पर बहस सुनकर आदेश भी जारी कर देगा।   नामदेव त्यागी उर्फ कम्प्यूटर बाबा को आठ नवम्बर को शांति भंग होने की आशंका में गिरफ्तार किया गया था। इसके बाद से वह जेल में हैं। आठ नवम्बर को ही जिला प्रशासन ने सरकारी जमीन पर बाबा द्वारा अवैध तरीके से बनाए गए आश्रम को जमींदोज किया था। बाबा के साथ छह समर्थक भी गिरफ्तार किए गए थे लेकिन उन्हें एसडीएम कोर्ट से नौ नवम्बर को ही जमानत मिल गई थी। बाबा के जेल में रहने के दौरान ही एरोड्रम और गांधी नगर पुलिस थाने में उनके खिलाफ दो अलग-अलग केस दर्ज कर लिए गए। बाबा की तरफ से हाई कोर्ट की इंदौर खंडपीठ में बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका दायर होने के बाद बाबा को शांति भंग के मामले में तो जमानत मिल गई, लेकिन एरोड्रम और गांधी नगर पुलिस थाने में दर्ज केस में उन्हें जमानत मिलना बाकी है।   बाबा के वकील की ओर से प्रस्तुत बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका पर रविवार को  हाई कोर्ट की डबल बैंच ने सुनवाई की थी। हाईकोर्ट ने आदेश दिया है कि उक्त दोनों थानों में दर्ज केस में सोमवार को जिला कोर्ट में जमानत याचिका प्रस्तुत की जाए और जिला कोर्ट उसी दिन इन याचिकाओं का निराकरण करें। बाबा की तरफ से पैरवी कर रहे एडवोकेट विभोर खंडेलवाल ने बताया कि सोमवार सुबह जमानत याचिका प्रस्तुत कर दी जाएगी। याचिका पर शाम तक फैसला भी आ जाएगा। इसके बाद ही तय हो पाएगा कि बाबा फिलहाल जेल में ही रहेंगे या उनकी रिहाई होगी।

Dakhal News

Dakhal News 16 November 2020


bhopal, Cabinet Minister, claimed position, Speaker Assembly

भोपाल। मप्र में उपचुनाव खत्म होने के बाद मंत्री पद के साथ ही महत्वपूर्ण पद दिए जाने की मांग उठने लगी है। कैबिनेट मंत्री बिसाहूलाल सिंह ने विध्य क्षेत्र के व्यक्ति को विधानसभा अध्यक्ष बनाए जाने की मांग की है। उनका तर्क है कि जो जहां रहता है उसका उस ईलाके से प्रेम होता है। विंध्य के लोग भी चाहते है कि वहां का विकास होना चाहिए। मंत्री बिसाहुलाल सिंह ने कहा है कि वो विंध्य के लोगों की मांग का समर्थन करते हैं कि विंध्य से अच्छे और योग्य व्यक्ति को विस अध्यक्षबनाया जाए और उन्होंने बड़े पोस्टफोलियों के सवाल पर कहा कि कोई विभाग छोटा या बड़ा नहीं होता छोटे विभाग में भी बेहतर काम हो सकते हैं।   कैबिनेट मंत्री बिसाहूलाल सिंह ने विंध्य से विधानसभा अध्यक्ष बनाए जाने की दावेदारी पेश की है। सोमवार को मीडिया को दिए अपने बयान में बिसाहूलाल सिंह ने कहा कि हर व्यक्ति को अपने क्षेत्र से प्यार होता है। विंध्य की जनता की मांग के अनुरूप ही मुझे विधानसभा अध्यक्ष की जिम्मेदारी मिलनी चाहिए। आगे कहा कि विधानसभा के शीतकालीन सत्र में पूर्णकालिक विधानसभा अध्यक्ष का निर्वाचन होगा।   गौरतलब है कि उपचुनाव संपन्न होने के बाद अब प्रदेश मेें भाजपा की निश्चित सरकार है। ऐसे में अब कैबिनेट विस्तार और खाली पड़े पदों को भरने की चर्चा तेज हो गई है। कुछ विधायक कैबिनेट मंत्री के पद पाने के लिए दावेदारी ठोक रहे हैं तो कोई कुछ और बड़े पद के लिए खुद की पैरवी कर रहे हैं। वहीं सीएम शिवराज ने अभी किसी भी तरह के कैबिनेट विस्तार या फिर खाली पदों को भरने से पहले ही इंकार कर चुके हैं।

Dakhal News

Dakhal News 16 November 2020


bhopal, Cabinet Minister, claimed position, Speaker Assembly

भोपाल। मप्र में उपचुनाव खत्म होने के बाद मंत्री पद के साथ ही महत्वपूर्ण पद दिए जाने की मांग उठने लगी है। कैबिनेट मंत्री बिसाहूलाल सिंह ने विध्य क्षेत्र के व्यक्ति को विधानसभा अध्यक्ष बनाए जाने की मांग की है। उनका तर्क है कि जो जहां रहता है उसका उस ईलाके से प्रेम होता है। विंध्य के लोग भी चाहते है कि वहां का विकास होना चाहिए। मंत्री बिसाहुलाल सिंह ने कहा है कि वो विंध्य के लोगों की मांग का समर्थन करते हैं कि विंध्य से अच्छे और योग्य व्यक्ति को विस अध्यक्षबनाया जाए और उन्होंने बड़े पोस्टफोलियों के सवाल पर कहा कि कोई विभाग छोटा या बड़ा नहीं होता छोटे विभाग में भी बेहतर काम हो सकते हैं।   कैबिनेट मंत्री बिसाहूलाल सिंह ने विंध्य से विधानसभा अध्यक्ष बनाए जाने की दावेदारी पेश की है। सोमवार को मीडिया को दिए अपने बयान में बिसाहूलाल सिंह ने कहा कि हर व्यक्ति को अपने क्षेत्र से प्यार होता है। विंध्य की जनता की मांग के अनुरूप ही मुझे विधानसभा अध्यक्ष की जिम्मेदारी मिलनी चाहिए। आगे कहा कि विधानसभा के शीतकालीन सत्र में पूर्णकालिक विधानसभा अध्यक्ष का निर्वाचन होगा।   गौरतलब है कि उपचुनाव संपन्न होने के बाद अब प्रदेश मेें भाजपा की निश्चित सरकार है। ऐसे में अब कैबिनेट विस्तार और खाली पड़े पदों को भरने की चर्चा तेज हो गई है। कुछ विधायक कैबिनेट मंत्री के पद पाने के लिए दावेदारी ठोक रहे हैं तो कोई कुछ और बड़े पद के लिए खुद की पैरवी कर रहे हैं। वहीं सीएम शिवराज ने अभी किसी भी तरह के कैबिनेट विस्तार या फिर खाली पदों को भरने से पहले ही इंकार कर चुके हैं।

Dakhal News

Dakhal News 16 November 2020


bhopal, CM Shivraj , VD Sharma, worshiped Dhanteras ,BJP state office

भोपाल। पांच दिवसीय दिपोत्सव की शुरुआत हो गई है। धनतेरस से लेकर भाईदूज तक पांच दिनों तक देशभर में त्यौहार की धूम रहेगी। प्रदेश में भी पर्व की धूमधाम देखने को मिल रही है। गुरुवार को धनतेरस के बाद आज शुक्रवार को नरक चतुर्दशी पर्व मनाया जा रहा है। इसी क्रम में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शुक्रवार को भाजपा प्रदेश कार्यालय भगवान धनतेरस की पूजा की।    भाजपा प्रदेश कार्यालय में सीएम शिवराज और भाजपा प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा ने भगवान धनतेरस और लक्ष्मी पूजा की। इस अवसर पर अन्य भाजपा नेता भी मौजूद रहे। सीएम शिवराज और प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा ने प्रदेशवासियों को दीपावली की बधाई देते हुए खुशहाली की कामना की। साथ ही उन्होंने लोगों से दीपावली पर्व के दौरान कोरोना गाइडलाइन का पालन करने की भी अपील की।    पूजा अर्चना के बाद मीडिया से बातचीत करते हुए मुख्यमंत्री शिवराज ने कहा कि भाजपा सरकार मिलावट के खिलाफ जबरदस्त अभियान छेड़ा है। हम गुंडागर्दी करने वाले को नहीं छोड़ेंगे। उनके खिलाफ अभियान प्रारंभ हो रहा है। प्रदेश में किसी तरह का गुंडाराज नहीं होगा। गौरतलब है कि इससे पूर्व गुरुवार देर शाम को सीएम शिवराज पत्नी साधना सिंह के साथ न्यू मार्केट खरीदारी करने पहुंचे थे। यहां उन्होंने चांदी का सिक्का और बर्तन खरीदे थे।  

Dakhal News

Dakhal News 13 November 2020


bhopal, Markets adorned,Deepawali, huge crowd ,gathering since morning

भोपाल। पांच दिवसीय दीपावली पर्व की शुरुआत गुरुवार को धनतेरस से हो गई है। मध्यप्रदेश में शुक्रवार को भी धनतरेस का पर्व मनाया जा रहा है और सुबह से ही बाजार में भारी भीड़ उमड़ रही है। दीपावली के बाजार सजकर तैयार हैं और लोग पसंद की वस्तुएं खरीदने के लिए मुख्य बाजार की दुकानों व प्रतिष्ठानों पर बड़ी संख्या में पहुंच रहे हैं। कोरोना के चलते पिछले आठ महीनों से ग्राहकी ठप रहने के बाद अब दुकानदारों को उम्मीदवार है कि दीपावली पर बाजार में जमकर धन बरसेगा।   मध्यप्रदेश में पांच दिवसीय दीपावली को लेकर राजधानी भोपाल समेत सभी शहरों के मुख्य बाजार और दुकानों में आकर्षक फूलों व विद्युत सजावट की गई है। कुछ दुकानों व प्रतिष्ठानों में धनतेरस विशेष पर ग्राहकों को बुलाने और उनको अच्छी व जल्दी सर्विस देने के लिए अतिरिक्त कर्मचारी भी रखे गए हैं। प्रदेश में अधिकांश लोगों ने गुरुवार को देर रात धनतेरस की खरीदारी की। वहीं, शुक्रवार को भी धनतेरस के अवसर पर सुबह से ही सराफा, कपड़ा, इलेट्रानिक, बर्तन दुकानों पर ग्राहकों की भीड़ दिखाई दे रही है। वाहन शो-रूम में लोग पसंदीदा वाहन खरीदने में जुटे हैं। इसके अलावा आतिशबाजी की दुकानें भी सज गई हैं और लोग सुबह से ही बच्चों के साथ खरीदारी करते हुए दिखाई दे रहे हैं।   बता दें कि जो लोग सोने-चांदी के आभूषण या मूर्ति नहीं खरीद सकते, वह नए बर्तन खरीदकर धनतेरस की पूजा कर भगवान धनवंतरी और मां लक्ष्मी को प्रसन्न करेंगे। इसीलिए लोग बाजारों में खरीदारी करने पहुंच रहे हैं। सराफा व्यापारी कहते हैं कि कोरोना संक्रमण के कारण बाजार बैठ गया था, लेकिन धनतेरस पर बड़ी संख्या में लोग सराफा बाजार पहुंच रहे हैं। दीपावली से बाजार में सोने- चांदी की मांग तेजी से उठने की उम्मीद है। वहीं, सभी बाजारों में दीया, लाई- बताशा और लक्ष्मी-गणेश प्रतिमाओं की दुकानें लाइन से लग गई हैं। अब इन दुकानों में लोगों की भीड़ हो रही है। दुकानदारों ने दीया व प्रतिमाओं की बिक्री होने से उमीद जताई है कि कोरोना संकट के बावजूद हमारे लिए भी यह दीपावली रोशनीमय होगी।   इस बार धनतेरस का पर्व दो दिन मना जा रहा है। ज्योतिषाचार्यों के मुताबिक धनतेरस का शुभ मुहूर्त शुक्रवार को शाम तक होने के कारण खरीदारी करने के लिए यह अच्छा समय है। विद्वानों ने धनतेरस पर आभूषण, वाहन, इलेक्ट्रॉनिक्स और बर्तन खरीदने का विशेष महत्व बताया है। ज्योतिषाचार्य जनार्दन पुजारी के अनुसार, हिंदू धर्म में समृद्धि के प्रतीक पांच दिवसीय दिवाली पर्व का विशेष महत्व है। इसके पहले दिन कार्तिक माह की कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी को देव वैद्य भगवान धनवंतरि का अवतरण हुआ था। उनके चार हाथ हैं। इनमें अमृत कलश, औषधि, शंख-चक्र आदि हैं। इस दिन आरोग्यता की कामना से भगवान धनवंतरि का पूजन किया जाता है। इन्हें भगवान विष्णु का अवतार भी माना जाता है।    पुलिस की नजर बाजारों पर   इधर, दीपावली के त्यौहार को ध्यान में पुलिस प्रशासन भी सतर्क है और प्रमुख बाजारों में पुलिस ने चौकसी कड़ी कर दी है। खरीदारों को किसी प्रकार की परेशानी का सामना ना करना पड़े इसके लिए पुलिस के आला अधिकारी बाजारों पर कड़ी निगरानी रखे हुए हैं और जहां भी वाहन आड़े-तिरछे या फिर गलत जगह लगे हुए नजर आ रहे हैं। उन वाहन चालकों के विरुद्ध चालानी कार्रवाई की जा रही है। 

Dakhal News

Dakhal News 13 November 2020


indore, time Diwali , Computer Baba , jail, bail application ,canceled again

इंदौर। पूर्ववर्ती कमलनाथ सरकार में राज्य मंत्री का दर्जा प्राप्त रहे कम्प्यूटर बाबा की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं। सरकारी ज़मीन पर अवैध कब्जा कर आलीशान आश्रम बनाकर रहने के आरोप में इन दिनों सेट्रल जेल में बंद कम्प्यूटर बाबा को इस साल की दिवाली जेल के अंदर ही मनानी पड़ेगी। एसडीएम ने गुरुवार को फिर से बाबा की जमानत याचिका निरस्त कर दी है।   नामदेव दास त्यागी उर्फ कंप्यूटर बाबा की जमानत याचिका एसडीएम राजेश राठौर की कोर्ट ने फिर निरस्त कर दी है। जमानत निरस्त होने का एक कारण ये भी है कि कोर्ट के सक्षम जमानत राशि 5 लाख रुपये जमा नहीं करने के कारण बाबा की याचिका रद्द कर दी गई है। जमानत निरस्त होने से बाबा को फिलहाल जेल में ही रहना होगा। ऐसे में अब कंप्यूटर बाबा की दीवाली भी जेल में ही मनेगी।   उल्लेखनीय है कि 80 करोड़ रुपये की 46 एकड़ सरकारी जमीन पर कम्प्यूटर बाबा ने कब्जा कर रखा था।  इसमें से 2 एकड़ जमीन पर आश्रम बना था। प्रशासन और पुलिस की टीम ने 8 नवम्बर को बुलडोजर और जेसीबी मशीनों से बाबा का आश्रम ढहा दिया था। विरोध करने पर प्रशासन ने बाबा सहित उनके सात समर्थकों को गिरफ्तार कर सेंट्रल जेल भेज दिया था। कंप्यूटर बाबा को छोड़ उनके सभी साथियों को जमानत मिल गई है।

Dakhal News

Dakhal News 12 November 2020


indore, time Diwali , Computer Baba , jail, bail application ,canceled again

इंदौर। पूर्ववर्ती कमलनाथ सरकार में राज्य मंत्री का दर्जा प्राप्त रहे कम्प्यूटर बाबा की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं। सरकारी ज़मीन पर अवैध कब्जा कर आलीशान आश्रम बनाकर रहने के आरोप में इन दिनों सेट्रल जेल में बंद कम्प्यूटर बाबा को इस साल की दिवाली जेल के अंदर ही मनानी पड़ेगी। एसडीएम ने गुरुवार को फिर से बाबा की जमानत याचिका निरस्त कर दी है।   नामदेव दास त्यागी उर्फ कंप्यूटर बाबा की जमानत याचिका एसडीएम राजेश राठौर की कोर्ट ने फिर निरस्त कर दी है। जमानत निरस्त होने का एक कारण ये भी है कि कोर्ट के सक्षम जमानत राशि 5 लाख रुपये जमा नहीं करने के कारण बाबा की याचिका रद्द कर दी गई है। जमानत निरस्त होने से बाबा को फिलहाल जेल में ही रहना होगा। ऐसे में अब कंप्यूटर बाबा की दीवाली भी जेल में ही मनेगी।   उल्लेखनीय है कि 80 करोड़ रुपये की 46 एकड़ सरकारी जमीन पर कम्प्यूटर बाबा ने कब्जा कर रखा था।  इसमें से 2 एकड़ जमीन पर आश्रम बना था। प्रशासन और पुलिस की टीम ने 8 नवम्बर को बुलडोजर और जेसीबी मशीनों से बाबा का आश्रम ढहा दिया था। विरोध करने पर प्रशासन ने बाबा सहित उनके सात समर्थकों को गिरफ्तार कर सेंट्रल जेल भेज दिया था। कंप्यूटर बाबा को छोड़ उनके सभी साथियों को जमानत मिल गई है।

Dakhal News

Dakhal News 12 November 2020


indore, time Diwali , Computer Baba , jail, bail application ,canceled again

इंदौर। पूर्ववर्ती कमलनाथ सरकार में राज्य मंत्री का दर्जा प्राप्त रहे कम्प्यूटर बाबा की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं। सरकारी ज़मीन पर अवैध कब्जा कर आलीशान आश्रम बनाकर रहने के आरोप में इन दिनों सेट्रल जेल में बंद कम्प्यूटर बाबा को इस साल की दिवाली जेल के अंदर ही मनानी पड़ेगी। एसडीएम ने गुरुवार को फिर से बाबा की जमानत याचिका निरस्त कर दी है।   नामदेव दास त्यागी उर्फ कंप्यूटर बाबा की जमानत याचिका एसडीएम राजेश राठौर की कोर्ट ने फिर निरस्त कर दी है। जमानत निरस्त होने का एक कारण ये भी है कि कोर्ट के सक्षम जमानत राशि 5 लाख रुपये जमा नहीं करने के कारण बाबा की याचिका रद्द कर दी गई है। जमानत निरस्त होने से बाबा को फिलहाल जेल में ही रहना होगा। ऐसे में अब कंप्यूटर बाबा की दीवाली भी जेल में ही मनेगी।   उल्लेखनीय है कि 80 करोड़ रुपये की 46 एकड़ सरकारी जमीन पर कम्प्यूटर बाबा ने कब्जा कर रखा था।  इसमें से 2 एकड़ जमीन पर आश्रम बना था। प्रशासन और पुलिस की टीम ने 8 नवम्बर को बुलडोजर और जेसीबी मशीनों से बाबा का आश्रम ढहा दिया था। विरोध करने पर प्रशासन ने बाबा सहित उनके सात समर्थकों को गिरफ्तार कर सेंट्रल जेल भेज दिया था। कंप्यूटर बाबा को छोड़ उनके सभी साथियों को जमानत मिल गई है।

Dakhal News

Dakhal News 12 November 2020


bhopal, Kamal Nath mmet CM Shivraj, wishing him victory , by-election

भोपाल। मध्य प्रदेश विधानसभा उपचुनाव के नतीजे आने के बाद एक तरफ भाजपा जीत का जश्र मना रही हैं। वहीं दूसरी ओर कांग्रेस हार का मंथन करने में जुट गई है। इस बीच मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ बुधवार को सीएम शिवराज से मुलाकात करने मुख्यमंत्री निवास पहुंचे। इस दौरान कमल नाथ के पुत्र सांसद नकुल नाथ भी साथ में थे।   मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट कर कमलनाथ के साथ अपनी मुलाकात की तस्वीरें साझा की है। उन्होंने ट्वीट कर लिखा ‘आज मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ जी ने निवास पर भेंट कर शुभकामनाएं दी। मैं उनको हृदय से धन्यवाद देता हूं। प्रदेश की प्रगति और जनता के कल्याण के लिए पूरे समर्पण एवं सामथ्र्य के साथ हम सब कार्य करेंगे। मध्यप्रदेश देश का सर्वश्रेष्ठ राज्य बने, यही हमारा संकल्प है।   कमलनाथ बोले, हम परिणामों की समीक्षा करेंगे वहीं सीएम शिवराज से मुलाकात के बाद मीडिया से बातचीत करत हुए पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा कि मैंने आज मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को जीत की शुभकामनाएँ दी है। मैंने उन्हें कहा है कि आज प्रदेश के सामने कई चुनौतियां है बेरोजगारी की, कृषि क्षेत्र की। मैंने उन्हें विश्वास दिलाया हैं कि विपक्ष की तरफ से प्रदेश के विकास में कोई अड़चन आने नहीं दी जाएगी। उपचुनाव परिणामों को लेकर कमलनाथ ने कहा कि आज हमने बैठक बुलायी है, उसमें हम परिणामों की समीक्षा करेंगे।

Dakhal News

Dakhal News 11 November 2020


bhopal, MP by-election,BJP swept 19 seats, Congress reduced to 09

भोपाल। मध्यप्रदेश में इसी साल हुए सत्ता परिवर्तन के कारण यहां विधानसभा की 28 सीटों पर हुए उपचुनाव के लिए मंगलवार को 19 जिला मुख्यालयों पर मतगणना हुई। दोपहर बाद रुझानों के साथ नतीजे आने शुरू हो गए थे, लेकिन सभी सीटों के परिणाम देर रात तक घोषित हो पाए। इन 28 सीटों में से 19 पर भाजपा ने जीत का परचम फहराया, जबकि सभी सीटों पर जीत का दावा करने वाली कांग्रेस 09 सीटों पर सिमट गई।मध्यप्रदेश में 28 विधानसभा क्षेत्रों में उपचुनाव के लिए गत 03 नवम्बर को मतदान हुआ था। मंगलवार को सुबह 08.00 बजे कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच मतगणना शुरू हुई। शुरुआती रुझानों में ही भाजपा ने बढ़त बना ली और यह बढ़त अंत तक जारी रही। दोपहर बाद नतीजे आने शुरू हो गए थे और रात करीब दो बजे तक सभी सीटों के परिणाम घोषित किये गये। घोषित परिणामों के अनुसार, 28 में से 19 सीटों पर भाजपा उम्मीदवार विजयी हुए हैं, जबकि नौ सीटों पर कांग्रेस के उम्मीदवारों ने बाजी मारी है। इन उपचुनावों में भाजपा को 49.46 फीसदी और कांग्रेस को 40.50 फीसदी वोट मिले। इसके अलावा बसपा ने भी 5.75 फीसदी वोट हासिल किये, लेकिन वह 28 में से एक भी सीट हासिल नहीं कर सकी। दरअसल, उपचुनावों में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया की प्रतिष्ठा दाव पर लगी हुई थी। उन्होंने चुनाव प्रचार के दौरान ताबड़तोड़ सभाएं कीं और उसी के अनुरूप नतीजे भी आए। इन उपचुनावों में शिवराज सरकार के दो पूर्व मंत्रियों समेत 14 मंत्री चुनाव मैदान में उतरे थे। इनमें से 11 मंत्रियों ने जीत हासिल की है, जबकि तीन मंत्रियों की हार हुई है। ग्वालियर जिले की डबरा सीट से महिला बाल विकास मंत्री इमरती देवी उपचुनाव हार गईं। इसके अलावा सुमावली सीट से मंत्री एंदल सिंह कंसाना और दिमनी सीट से मंत्री गिर्राज दंडोतिया भी पराजित हो गए। सीटवार विवरण : - सीट      -          विजयी/उम्मीदवार   -  पार्टी,           निकटतम प्रतिद्वंद्वी   -   पार्टी           जीत का अंतरसुमावली -         अजबसिंह कुशवाह -   कांग्रेस -        एदल सिंह कंसाना    -  भाजपा -            10947 मुरैना -             राकेश मावई -   कांग्रेस -                 रघुराज सिंह कंसाना -  भाजपा -            5751 दिमनी -            रविन्द्र सिंह तोमर ‘भिड़ौसा‘- कांग्रेस,    गिर्राज डण्डौतिया -   भाजपा -           26467 अम्‍बाह -           कमलेश जाटव   -  भाजपा-                सत्‍य प्रकाश सखवार - कांग्रेस -          13892 मेहगांव -           ओ.पी.एस. भदौरिया  -  भाजपा -         हेमन्‍त सत्‍यदेव कटारे - कांग्रेस -          12036 गोहद -              मेवाराम जाटव  -  कांग्रेस,                 रणवीर जाटव- भाजपा -                    11899 ग्‍वालियर    -       प्रद्युम्न सिंह तोमर  - भाजपा,          सुनील शर्मा - कांग्रेस -                         33123ग्‍वालियर पूर्व -     डॉ. सतीश सिकरवार - कांग्रेस,           मुन्नालाल गोयल (मुन्ना भैया) - भाजपा  -     8555 डबरा -                सुरेश राजे  -  कांग्रेस,                      इमरती देवी- भाजपा -                              7633 भाण्‍डेर -             रक्षा संतराम सरौंनियां - भाजपा,         फूलसिंह बरैया-कांग्रेस -                        161 करेरा -               प्रागीलाल जाटव  -   कांग्रेस,              जसमंत जाटव छितरी- भाजपा -             30641 पोहरी -               सुरेश धाकड़ राँठखेडा  -  भाजपा,         हरी वल्‍लभ शुक्‍ला- कांग्रेस -                  22496बामोरी -              महेन्द्र सिंह सिसौदिया (संजू भैया) - भाजपा,     कन्हैयालाल रामेश्वर अग्रवाल- कांग्रेस -      53153अशोकनगर -        जजपाल सिंह "जज्जी"   -  भाजपा,           आशा दोहरे- कांग्रेस                     14630 मुंगावली -            ब्रजेन्‍द्र सिंह यादव   -  भाजपा,              कन्हईराम लोधी-कांग्रेस -                21469 सुरखी -              गोविन्‍द सिंह राजपूत   -   भाजपा,          पारूल साहू केशरी-कांग्रेस -               40991 मलहरा -             कुंवर प्रद्युम्‍न सिंह लोधी  -  भाजपा,        राम सिया भारती- कांग्रेस -             17567 अनूपपुर -            बिसाहू लाल सिंह  -  भाजपा,                  विश्वनाथ सिंह-कांग्रेस -                 34864 सांची -                डॉ. प्रभुराम चौधरी  -  भाजपा,                 मदनलाल चौधरी - कांग्रेस -             63809ब्‍यावरा -             आमल्याहाट-रामचंद्र दांगी -  कांग्रेस,         नारायणसिंह पंवार - भाजपा-           12102आगर -               विपिन वानखेडे  -   कांग्रेस,                   मनोज मनोहर ऊँटवाल (बंटी)-  भाजपा-      1998 हाटपिपल्‍या -        मनोज नारायणसिंह चौधरी  -  भाजपा,     कुँ. राजवीर सिंह राजेन्‍द्रसिंह बघेल -  कांग्रेस -    13904मांधाता -              नारायण सिंह पटेल  -  भाजपा,              उत्तमपाल सिंह -   कांग्रेस -               22129नेपानगर -            सुमित्रादेवी कास्‍डेकर  -    भाजपा,            रामकिशन पटेल -   कांग्रेस              26340बदनावार -            राजवर्धनसिंह दत्तीगांव   -  भाजपा,         कमलसिंह पटेल-   कांग्रेस -             32133सांवेर -                 तुलसीराम सिलावट  -   भाजपा -             प्रेमचंद गुड्डू-  कांग्रेस -                  53728 सुवासरा -              डंग हरदीपसिंह   -   भाजपा,                  भाई राकेश पाटीदार-  कांग्रेस -          39440जौरा -                  सूबेदार सिंह रजौधा  -  भाजपा,               पंकज उपाध्याय-  कांग्रेस -              13478

Dakhal News

Dakhal News 11 November 2020


bhopal, We promise, we will not let ,expressed the confidence ,Shivraj Singh

भोपाल। कोरोना संकट के दौरान हमारी सरकार द्वारा किए गए काम और कार्यकर्ताओं की अथक मेहनत की बदौलत हम प्रदेश की जनता का विश्वास जीतने में सफल रहे। एक बार फिर जनता ने अपना प्यार और विश्वास भारतीय जनता पार्टी पर जताया है। हम वचन देते हैं कि जनता ने हम पर जो विश्वास जताया है, जान भले ही चली जाए, लेकिन उस विश्वास को टूटने नहीं देंगे। मैं इस प्रदेश की 8.5 करोड़ जनता का आभार जताता हूं और प्रणाम करता हूं। यह बात मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने 28 विधानसभा सीटों के उपचुनाव में पार्टी को मिली जीत के उपलक्ष्य में प्रदेश भाजपा कार्यालय में आयोजित विजय उत्सव में कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कही।    मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री के नेतृत्व में हमारी केंद्र सरकार अभूतपूर्व काम कर रही है। वहीं, अमित शाह के नेतृत्व और नड्डा जी के मार्गदर्शन में पार्टी लगातार प्रगति कर रही है। उनके आशीर्वाद से ही मध्यप्रदेश में पार्टी को प्रचंड जीत मिली है। बिहार, गुजरात, उत्तरप्रदेश हर जगह पार्टी की जीत का परचम फहराया है। इसके लिए मैं केंद्रीय नेतृत्व का आभार जताता हूं।   उन्‍होंने कहा कि पार्टी को मिली इस जीत के लिए मैं उन लाखों लाख कार्यकर्ताओं का अभिनंदन करता हूं जिन्होंने प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदत्त शर्मा के नेतृत्व और संगठन मंत्री सुहास भगत के मार्गदर्शन में कड़ी मेहनत की। उन्‍होंने कहा कि कांग्रेस ने प्रदेश को भ्रष्टाचार और दलाली का अड्डा बना दिया था। उन्होंने प्रदेश का विकास ठप्प कर दिया था और हमारी सारी योजनाएं बंद कर दी थीं। चुनाव के दौरान उन्होंने खूब गालियां दीं, कई तरह की तोहमद लगाई। गद्दार, बिकाऊ और पता नहीं क्या-क्या कहा। लेकिन भाजपा की इस जीत ने ये साबित कर दिया कि सिंधिया जी और उनके साथियों ने कमलनाथ सरकार को गिराने का जो काम किया था, जनता उसका स्वागत करती है। जनता से साबित कर दिया कि उस सरकार को गिराना जरूरी था। श्री चौहान ने कहा कि ये जीत विकास की जीत है, जनता के कल्याण की जीत है, हमारे विचार, संस्कार और विनम्रता की जीत है। दंभ और अहंकार को पराजित होना पड़ा।    श्री चौहान ने कहा कि अब संगठन के सहयोग से प्रदेश का विकास ही हमारा लक्ष्य है। हम अंत्योदय समितियां बनाएंगे, जो ये देखेंगी कि सरकार की योजनाओं का लाभ अंतिम व्यक्ति तक पहुंचे। हम मध्यप्रदेश को आत्मनिर्भर बनाने का काम कल से ही शुरू कर देंगे। श्री चौहान ने कहा कि पं. दीनदयाल जी कहा करते थे कि जो गरीब है, वही हमारा नारायण है। हम प्रदेश के गरीबों, किसानों, महिलाओं, भांजे-भांजियों की सेवा का संकल्प लेते हैं और अब हमें इन्हीं की सेवा में जुटना है। श्री चौहान ने कहा कि कांग्रेस के 15 महीनों के शासन के बाद जनता ने ये पहचान लिया कि भाजपा ही खरी है। इसलिए जहां हम हारे हैं, बहुत कम मार्जिन से हारे हैं, लेकिन जहां हम जीते, बड़े अंतर से जीते हैं।    भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष व सांसद विष्णुदत्त शर्मा ने विधानसभा उपचुनाव में भारतीय जनता पार्टी की ऐतिहासिक जीत पर प्रदेश की जनता का आभार जताया। उन्होंने कहा कि इस विराट जीत का श्रेय पार्टी नेतृत्व और कार्यकर्ताओं के अथक परिश्रम को जाता है। जनता ने भारतीय जनता पार्टी पर जो विश्वास व्यक्त किया यह उस विश्वास की जीत है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान के नेतृत्व वाली सरकार ने 15 वर्षों तक लगातार और पिछले 6 माह में दिन रात गरीबों के लिए जो काम किए है, उसके कारण यह जीत मिली है। उन्होंने कहा कि यह जीत हमें आने वाले चुनाव में ऊर्जा देगी। अब हमें मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान के संवेदनशील नेतृत्व में, पार्टी के वरिष्ठ नेताओं के साथ मिलकर मध्यप्रदेश के विकास का संकल्प लेना है।   विष्णुदत्त शर्मा ने कहा कि बिहार चुनाव में एनडीए को मिली ऐतिहासिक सफलता का श्रेय प्रधानमंत्री  नरेन्द्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह, राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा और बिहार के मुख्यमंत्री नीतिश कुमार को जाता है और उन्हें मैं बधाई देता हूं। इस चुनाव में कार्यकर्ताओं ने अथक मेहनत की और उसी का परिणाम है कि भाजपा को यह विजय मिली है। इसके लिए सभी 28 विधानसभाओं में बूथ स्तर तक काम करने वाले पार्टी कार्यकर्ता बधाई के पात्र है।

Dakhal News

Dakhal News 10 November 2020


bhopal, former minister, lashed out, Scindia

भोपाल। मध्य प्रदेश विधानसभा उपचुनाव परिणाम में जीत भाजपा के नजदीक है। कांग्रेस अब भी जीत की उम्मीद लगाए हुए है और मतगणना समाप्त होने तक इंतजार करने की बात कह रही है। वहीं इस बीच पूर्व मंत्री और कांग्रेस विधायक उमंग सिंघार का बड़ा बयान सामने आया है। उन्होंने ज्योतिरादित्य सिंधिया पर पर निशाना साधते हुए कहा है कि सिंधिया जी का बोरिया बिस्तर कहां जाएगा, वो देख लें।   पूर्व मंत्री उमंग सिंगार ने मंगलवार को मीडिया को बयान देते हुए ज्योतिरादित्य सिंधिया पर तंज कसा है। उन्होंने कहा कि सिंधिया और उनकी टीम के लोगों का अगला ठिकाना बहुजन समाज पार्टी ही होगी। वहीं उपचुनाव परिणाम और रुझान पर प्रतिक्रिया देते हुए उन्होंने कहा कि कांग्रेस की सीटें बढ़ती हुई दिख रही हैं, हम सरकार बनाएंगे। भाजपा विधायक नाखुश हैं, कांग्रेस के संपर्क में कई भाजपा विधायक हैं। बताते चले कि उपचुनाव में शिवराज और कमलनाथ के साथ सिंधिया की प्रतिष्ठा भी दांव पर लगी हुई है। उपचुनाव में भाजपा ने सिंधिया खेमे के मंत्रियों को अपना प्रत्याशी बनाया है। हालांकि  अधिकांश सीटों पर सभी मंत्री जीत की ओर बढ़ रहे हैं।   जनता का फैसला सब को स्वीकार वहीं कांग्रेस विधायक कांतिलाल भूरिया ने उपचुनाव परिणाम को लेकर कहा कि अभी मतगणना पूरी नहीं हुई है। ये लोकतंत्र है और जनता का फैसला सब को स्वीकार करना चाहिए। कांतिलाल भूरिया ने ईवीएम पर भी सवाल उठाते हुए कहा कि ईवीएम में गड़बड़ी की गई है। बिहार चुनाव में भी ईवीएम में गड़बड़ी हुई है। कांग्रेस निर्वाचन आयोग से शिकायत करेगी।

Dakhal News

Dakhal News 10 November 2020


bhopal, MP Counting ,Tuesday amid, tight security, fate of 355 candidates

भोपाल। मध्यप्रदेश में 19 जिलों की 28 विधानसभा सीटों पर उपचुनावों के लिए गत तीन नवम्बर को मतदान संपन्न हो चुका है। इन सीटों पर 355 उम्मीदवार मैदान में है और उनकी किस्मत ईवीएम में कैद है। मतगणना के साथ ही इनके भाग्य का फैसला भी होगा। मंगलवार, 10 नवम्बर को सुबह आठ बजे कड़ी सुरक्षा व्यवस्था और कोरोना संबंधी दिशानिर्देशों का पालन करते हुए संबंधित जिला मुख्यालयों पर मतों की गणना होगी और देर शाम तक परिणाम आने की संभावना है। इन 28 विधानसभा क्षेत्रों में 70.27 प्रतिशत मतदान हुआ है, जिनमें पुरुष मतदाताओं ने 73.18 और महिला मतदाताओं ने 66.98 प्रतिशत मतदान किया है।   निर्वाचन आयोग द्वारा 19 जिला मुख्यालयों पर होने वाली मतगणना की सभी तैयारियां पूरी कर ली गई हैं। सबसे ज्यादा राउंड की गिनती ग्वालियर पूर्व में होगी। यहां पर 32 राउंड तक मतों की गिनती चलेगी। ग्वालियर-चंबल क्षेत्र से अधिकांश मतदाता सेना में हैं। ऐसे में पोस्टल बैलेट से डाले गए वोट की संख्या अधिक हैं। इसलिए यहां पर पोस्टल बैलेट की गणना में सबसे ज्यादा समय लगेगा, जबकि डबरा में सबसे कम 24 राउंड में मतों की गिनती पूरी हो जाएगी। इस बार काउंटिंग के लिए बड़ी स्क्रीन लगाई जा रही है, ताकि प्रत्याशी उनके एजेंट बाहर से ही उसे देख सकें। पहली बार ईवीएम की काउंटिंग के साथ ही पोस्टल बैलेट की गिनती की जाएगी। अब तक सबसे पहले पोस्टल बैलेट गिने जाते थे, उसके बाद ईवीएम में पड़े मतों को गिना जाता था। इस बार 285 अतिरिक्त काउंटिंग सेंटर बनाए गए हैं। सुरक्षा के लिए ग्वालियर-भिंड और मुरैना में अतिरिक्त सुरक्षा बल तैनात किया गया है।    निर्वाचन आयोग के अधिकारियों के अनुसार मतगणना स्थल पर बिना मास्क के किसी व्यक्ति को प्रवेश करने की अनुमति नहीं दी जाएगी। इसके साथ ही शरीर का तापमान लेने के बाद ही अभ्यर्थी और उनके अभिकर्ताओं को मतगणना स्थल पर प्रवेश दिया जाएगा। केंद्रीय और राज्य का सशस्त्र बल कानून व्यवस्था संभालने के लिए मुस्तैद रहेगा। अतिरिक्त मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी अरुण कुमार तोमर ने बताया कि मतगणना स्थल पर बड़ी स्क्रीन लगाई जा रही है। इसके जरिए प्रत्येक चक्र की गणना के नतीजे पता चल सकेंगे।   मुख्य मुकाबला भाजपा-कांग्रेस के बीच   मध्यप्रदेश में 28 सीटों पर हुए उपचुनाव में मुख्य मुकाबला भाजपा और कांग्रेस के बीच है। इन उपचुनावों के नतीजों से यह तय होगा कि प्रदेश में किसकी सरकार बनेगी। दरअसल, पिछले विधानसभा चुनाव में कमलनाथ के नेतृत्व में कांग्रेस की गठबंधन सरकार बनी थी, लेकिन इसी साल मार्च में कांग्रेस के 22 विधायकों द्वारा इस्तीफा देने से कांग्रेस की सरकार बन गई और शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व में भाजपा की सरकार आ गई। मप्र की 230 सदस्यीय विधानसभा में वर्तमान में 201 विधायक हैं। इनमें से भाजपा के 107, कांग्रेस के 87, बसपा के दो, सपा का एक और चार निर्दलीय विधायक हैं। कुल 29 सीट रिक्त हैं, जिनमें से 28 सीटों पर उपचुनाव हुए हैं। दमोह सीट से हाल ही में कांग्रेस विधायक राहुल सिंह के हाल ही में विधायक पद से त्यागपत्र देने के कारण रिक्त हुई है।    संख्याबल के आधार पर प्रदेश में फिलहाल भाजपा की सरकार है, लेकिन रिक्त सीटों में 25 पर कांग्रेस के विधायक रहे हैं, जो अपनी विधायकी से इस्तीफा देकर भाजपा में आए हैं। उपचुनाव के बाद किसी भी दल को सत्ता में बने रहने के लिए 115 विधायकों की जरूरत पड़ेगी। भाजपा को सत्ता में बने रहने के लिए आठ और कांग्रेस को 28 विधायकों की जरूरत है। कांग्रेस सभी 28 सीटें जीतकर सरकार बनाने का दावा कर रही है। 

Dakhal News

Dakhal News 9 November 2020


bhopal,Chief Minister,tied up , relatives , young man , after reaching

भोपाल। गुना जिले के बमौरी थाना क्षेत्र अंतर्गत ग्राम उकावदखुर्द में तीन दिन पहले एक युवक को पांच हजार रुपये के लेन-देन में जिंदा जलाकर मौत के घाट उतार दिया गया था। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान सोमवार को ग्राम उकावदखुर्द में हुई घटना के प्रभावित परिवार से मिलने उनके निवास पहुँचे। मुख्यमंत्री ने स्वर्गीय स्व. विजय सहरिया की पत्नी को सरकारी नौकरी देने, आगामी 6 माह तक 5 हजार रूपये प्रतिमाह गुजारा राशि देने, संबल योजना में 4 लाख रुपये और पक्का मकान दिये जाने के निर्देश दिये। मुख्यमंत्री ने शोक संतप्त परिवार के प्रति संवेदनाएं व्यक्त कीं, ढांढस बंधाया और हरसंभव मदद का भरोसा दिया।   मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने स्वर्गीय विजय की पत्नी रामसुखी बाई से कहा कि सरकार उनके साथ है। उनके साथ हुए अन्याय को बर्दाश्त नहीं किया जायेगा। दोषियों के विरूद्ध कठोर कार्यवाही होगी। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने स्वर्गीय विजय सहरिया के 5 वर्षीय पुत्र पियूष एवं 4 वर्षीय पुत्री नेन्सी को अपनी गोद में बैठाकर स्नेह दिया और कहा कि इनकी शिक्षा की व्यवस्था सरकार करेगी।   मुख्यमंत्री ने कहा कि नियम विरूद्ध और बिना लायसेंस के मनचाहे दर पर गरीबों को कर्जा देने, उनकी संपत्ति हड़पने और प्रताडि़त करने वाले साहूकारों के विरूद्ध सरकार ने कानून बनाया है। साहूकारों के विरूद्ध कानून में अर्थदण्ड के साथ 3 वर्ष तक की सजा का भी प्रावधान है। ऐसे साहूकारों के कर्ज में दबे अनुसूचित जनजाति के व्यक्ति सीधे शिकायत करें। संबंधित के विरूद्ध कठोर कार्रवाई की जाएगी।    मुख्यमंत्री ने कहा कि शासन ने जो कानून बनाया है उसमें नियम विरूद्ध और बिना लायसेंस के कर्ज बांटने और मनचाही दर पर ब्याज वसूलने वालों के विरूद्ध कार्यवाही तो होगी ही साथ ही उनके द्वारा दिये गये कर्ज भी माफ होंगे। मुख्यमंत्री ने जिला प्रशासन के अधिकारियों को निर्देश दिये कि ऐसे साहूकारों के विरूद्ध कार्रवाई करने और पारित आदेश का कड़ाई से क्रियान्वयन सुनिश्चित किया जाये। इस मौके पर पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री महेन्द्र सिंह सिसौदिया भी मौजूद रहे।

Dakhal News

Dakhal News 9 November 2020


bhopal,Chief Minister, interacted, Sahariya Jan-Chaupal, tribal sarpanch Ramvati

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज चौहान ने कहा है कि सूदखोरों पर कार्यवाही करने के लिये अनुसूचित-जनजाति ऋण विमुक्ति अधिनियम-2020 बनाया गया है। अधिनियम के अंतर्गत 15 अगस्त, 2020 तक के नियम विरुद्ध तरीके से दिये गये कर्जों को माफ करने की व्यवस्था की गई है। मुख्यमंत्री ने कहा कि क्रांतिकारी बिरसा मुण्डा का जन्म-दिन आदिवासी गौरव दिवस के रूप में मनाया जायेगा। सीएम शिवराज ने सोमवार को श्योपुर जिले के आदिवासी विकासखण्ड कराहल के गाँव बरगवां में सहरिया जन-चौपाल में संवाद किया। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने कहा कि सहरिया समुदाय के व्यक्तियों ने जो सूदखोरों के यहाँ गिरवी रखा है, उसे वापस करना होगा। वापस नहीं करने पर 3 साल की सजा होगी। उन्होंने कहा कि कलेक्टरों की जवाबदारी है कि सभी पात्र लोगों को इस कानून का लाभ दिलायें। उन्होंने कहा कि गलत काम करने वाले बख्शे नहीं जायेंगे।आदिवासी गौरव दिवससीएम शिवराज ने कहा कि क्रांतिकारी बिरसा मुण्डा का जन्म-दिन दीपावली पर आदिवासी गौरव दिवस के रूप में मनाया जायेगा। उन्होंने कहा कि बिरसा मुण्डा ने अंग्रेजों को भारत से बाहर करने और अन्याय एवं अत्याचार के खिलाफ जबरदस्त लड़ाई लड़ी थी। मुख्यमंत्री ने कहा कि किसान सम्मान-निधि योजना में मुख्यमंत्री कल्याण-निधि योजना जोड़ी गई है। इससे किसानों को 10 हजार रुपये मिलेंगे। उन्होंने कहा कि पौन एकड़ जमीन पर भी योजना का लाभ दिया जायेगा, छूटे हुए नाम जोड़े जायेंगे।मुख्यमंत्री ने कहा कि श्योपुर जिले में 7 हजार खाद्यान्न पात्रता पर्ची जारी की गई हैं। इन पर्चियों में से जो वंचित रह गये हैं, उनके नाम सर्वे करा कर जोड़े जायेंगे। उन्होंने कहा कि गरीबी रेखा की सूची में अमीर लोगों के नाम हों, तो उन्हें हटाएं। श्री चौहान ने कहा कि अगर राशन दुकान दूर हो, तो इनका युक्ति-युक्तकरण किया जाये।सरपंच रामवती के घर किया भोजनमुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ग्राम बरगवां में सहरिया जन-चौपाल के बाद सरपंच रामवती आदिवासी के घर पत्तल पर भोजन किया। सरपंच रामवती ने मुख्यमंत्री की इस सहजता के प्रति उनका धन्यवाद दिया। उन्होंने कहा कि यह पूरे समाज के लिये प्रसन्नता का विषय है कि मुख्यमंत्री ने उनके घर में भोजन किया। इस दौरान क्षेत्रीय जन-प्रतिनिधि एवं ग्रामीण उपस्थित थे।छात्र-छात्राओं को स्व-सहायता समूहों के माध्यम से गणवेशसीएम शिवराज ने जन-चौपाल में सीधा संवाद करते हुए कहा कि स्कूली विद्यार्थियों को किताबें उपलब्ध करा दी गई हैं। आगामी सत्र से इन्हें स्व-सहायता समूहों के माध्यम से गणवेश बनवा कर दिये जायेंगे। मातृ वंदना योजना में 6096 रुपये की राशि दी जा रही है। योजना में 3556 हितग्राहियों को लाभान्वित किया जा चुका है। सहरिया परिवार की मुखिया को पोषण-आहार के रूप में एक हजार रुपये की राशि दी जा रही है। सर्वे करा कर सभी पात्र महिलाओं को इसका लाभ दिलाना सुनिश्चित किया जाये। मुख्यमंत्री ने कहा कि अटल प्रोग्रेस-वे के माध्यम से श्योपुर जिले में विकास का मार्ग प्रशस्त होगा।सीएम ने कहा कि भील जनजाति के लोगों के प्रमाण-पत्र बनाने की दिशा में कार्यवाही की जा रही है। संबल योजना के परिवारों के बच्चों की फीस सरकार भरेगी। सहरिया परिवारों के लिये 100 रुपये बिजली बिल देने की सुविधा दी गई है। उन्होंने विधायक श्री सीताराम आदिवासी की माँग पर डैम, तालाब और सडक़ निर्माण का आश्वासन दिया।सीधा संवादमुख्यमंत्री ने सहरिया जन-चौपाल पर ग्राम बरगवां की सरपंच रामवती आदिवासी, कराहल के सरपंच नंदू आदिवासी, गौरस जय दुर्गे समूह की सुनीता आदिवासी, राधास्वामी समूह मालीपुरा की विमला बाई, कराहल समूह की कलीयाबाई, गढ़ला समूह की निकुड़ी आदिवासी, डूडीखेड़ा की सुनीता भिलवाड़ और जिला पंचायत की पूर्व अध्यक्ष गुड्डीबाई से सीधे बातचीत की। क्षेत्रीय विधायक सीताराम आदिवासी ने भी विचार व्यक्त किये।चाक घुमाकर बनाये मिट्टी के बर्तनमुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ग्राम बरगवां में कल्याण प्रजापति के घर पहुँचकर पहले मिट्टी के बर्तन बनाने की विधि जानी फिर चाक घुमाकर मिट्टी की बोतल बनाई। उन्होंने मिट्टी से बनने वाले बर्तनों से होने वाली आमदनी की भी जानकारी ली।

Dakhal News

Dakhal News 9 November 2020


bhopal, Kamal Nath, big charge, BJP lost , bargain,by-elections

भोपाल। मध्य प्रदेश में 28 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव संपन्न हो गए हैं। अब सभी को 10 नवम्बर को आने वाले परिणाम का इंतजार है। इससे पहले मप्र के पूर्व सीएम और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने बड़ा बयान देते हुए भाजपा पर गंभीर आरोप लगाए हैं। उन्होंने कहा है कि उप चुनावों में जनता द्वारा सच्चाई का साथ देने के कारण अपनी हार को सुनिश्चित देखते हुए भारतीय जनता पार्टी ने येन-केन प्रकारेण सरकार में बने रहने के लिए सौदेबाजी और बोलियां लगाने की राजनीति फिर शुरू कर दी है।   कमलनाथ ने शुक्रवार को जारी अपने एक बयान में कहा कि उनके पास कांग्रेस के विधायकों और निर्दलीय विधायकों की तरफ से निरंतर यह सूचना प्राप्त हो रही है कि भाजपा के लोग उनसे संपर्क करके तरह-तरह के प्रलोभन दे रहे हैं। उन्होंने कहा कि भाजपा यह समझ ले कि इस प्रदेश की जनता ने सौदेबाजी और बोलियों से बनी सरकार को अस्वीकार कर दिया है। आगामी 10 नवम्बर को उपचुनाव के परिणाम इस बात को सिद्ध करेंगे कि प्रदेश की जनता ने सौदेबाजी की सरकार को नकार दिया है।   पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि शुचिता की राजनीति की बात करने वाली भाजपा को चुनाव परिणाम के बाद नैतिकता के आधार पर इस्तीफा देना पड़ेगा, लेकिन जो आचरण आज की भाजपा और उनके नेताओं का है, उनसे नैतिकता की उम्मीद मध्यप्रदेश की जनता को नहीं है। आज की भाजपा तो नैतिकता से कोसों दूर जा चुकी है। गत मार्च 2020 से भाजपा ने अपने आचरण से यह स्वयं सिद्ध किया है। अब फिर से सरकार में बने रहने के लिए मतदान के बाद अनैतिक और प्रदेश को कलंकित करने की राजनीति भारतीय जनता पार्टी ने शुरू कर दी है।       कमलनाथ ने कहा कि मतदान के पहले भाजपा ने पुलिस, प्रशासन, रुपया, शराब और विभिन्न प्रलोभन सामग्री का दुरुपयोग कर मतदान को प्रभावित करने का कुत्सित प्रयास किया और जब इससे भी सफल होते नहीं दिख रहे हैं तो फिर से सौदेबाजी की राजनीति पर उतर आए हैं। आगामी 10 नवम्बर को आने वाला जनादेश यह सिद्ध करेगा कि सौदेबाजी के माध्यम से बनने वाली सरकारे जनता खारिज करती है। यह जनमत उन अधिकारियों के लिए भी चेतावनी होगा जो संवैधानिक दायित्वों का अतिक्रमण कर राजनैतिक एजेण्डे के लिए काम करने हेतु किसी भी सीमा तक जाने के लिए उतावले रहे हैं।   कमलनाथ ने चेतावनी भरे लहजे में कहा कि अगर भाजपा ने सरकार में टिके रहने के लिए मध्यप्रदेश की पहचान और जनता के सम्मान को कलंकित करने की सौदेबाजी की तो जनता के साथ मिलकर लोकतंत्र को बचाने के लिए कांग्रेस आक्रमक आंदोलन और प्रतिरोध करेगी। किसी भी स्थिति में सौदेबाजी की सरकार को मध्यप्रदेश में स्वीकार नहीं किया जायेगा। प्रदेश में जनता की सरकार को स्थापित करने के लिए सौदेबाजों और बोली लगाने वालों को मुहंतोड़ जवाब दिया जायेगा।

Dakhal News

Dakhal News 6 November 2020


anuppur, The results , by-election ,are restless, speculation market hot

अनूपपुर। उपचुनाव अनूपपुर के लिए तीन दिन पहले हुए मतदान के बाद भी इस सुलगते सवाल का जवाब नहीं मिल सका है। जवाब 10 नवम्बर को मतगणना के साथ ही मिलेगा। जिस पर सभी की निगाहें लगी हुई हैं। राजनीतिक दलों से जुड़े लोगों के साथ ही प्रत्याशी और उनके समर्थक तो नतीजों को लेकर बेचैन हैं, साथ ही राजनीति में रुचि रखने वालों के साथ ही सामान्यजन भी उत्सुक है। अटकलों का बाजार भी इसके चलते गर्म हो गया है। सबका अपना-अपना आंकलन है तो दावे भी।   अनूपपुर के चुनावी समर में भाग्य आजमाने वाले 12 प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला ईवीएम में बंद हो गया है और उसे स्ट्रांग रूम में कड़ी सुरक्षा इंतजाम के साथ रखा गया है।   मतदान समाप्ति के साथ ही प्रत्याशी और उनके समर्थक जीत-हार का आंकलन कर रहे हैं। लोग यह जानने का प्रयास कर रहे हैं कि अनूपपुर में कौन जीतेगा और किसके पल्ले हार पड़ेगी, मतदान का बारिकी से आंकलन भी किया जा रहा है। गांव से लेकर शहर के चौराहों तक है। हर कोई अपना आंकलन और दावा बता रहा है। इसको लेकर वह तर्क भी प्रस्तुत कर रहा है तो शर्त भी लगाने को तैयार है।   मतदान के तीन दिन बाद भी प्रत्याशियों द्वारा जानकारी लेने का क्रम जारी है। किस मतदान केन्द्र और क्षेत्र से उन्हें कितने मत मिलने चाहिए और कितने नहीं इसको लेकर जानकारी प्रत्याशियों द्वारा ली जा रही है। अलग-अलग ढंग से जीत-हार का आकलन किया जा रहा है। इस दौरान प्रत्याशियों की धडकनें बढऩे के साथ ही बैचेन है।

Dakhal News

Dakhal News 6 November 2020


bhopal, CM Shivraj ,urges voters, vote maximum

भोपाल। मध्यप्रदेश के 19 जिलों की 28 विधानसभा सीटों के उपचुनाव के लिए मंगलवार सुबह 07 बजे से शुरू हुए मतदान के बीच मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मतदाताओं से कोरोना संक्रमण को देखते हुए दी गईं सभी गाइडलाइंस का पालन करते हुए अधिक से अधिक संख्या में मतदान करने का आग्रह जनता जनार्दन से किया है।    चौहान ने सोशल मीडिया के माध्‍यम से अपने ट्वीट में कहा, "मित्रों, निर्णय की घड़ी आ गई है। मैं 28 सीटों के सभी मतदाताओं से अपील करताहूँ कि सभी गाइडलाइंस का पालन करते हुए अधिक से अधिक संख्या में वोट दें"।   इससे पहले उन्‍होंने दो ट्वीट और किए थे, जिसमें एक में लिखा कि ''ये लो, आज एक और आ गया, आनंद ही आनंद।'' और दूसरे में लिखा-मेरे प्रिय भाइयों-बहनों और भांजे-भांजियों, नमस्कार! प्रदेश की सरकार को मजबूत करने और प्रदेश तथा क्षेत्र के विकास के लिए कमल के फूल का बटन दबाकर अपने क्षेत्र के @BJP4MP के प्रत्याशी को विजयी बनायें। आपका बहुत-बहुत धन्यवाद!   उधर, पूर्व मुख्‍यमंत्री कमलनाथ ने भी जनता से भावुक अपील की है। कमलनाथ ने ट्वीट कर कहा कि आज वो अवसर आ गया है, जब हमें अपने बहुमूल्य मत का उपयोग कर सच्चाई का साथ देना है। यह उपचुनाव कोई साधारण चुनाव नहीं है, यह चुनाव प्रदेश के भविष्य की दशा-दिशा तय करेंगे, देश भर में स्वच्छ, नैतिक व ईमानदार राजनीति का संदेश देंगे। आपका एक-एक मत लोकतंत्र व संविधान की रक्षा में सहभागी बनेगा, जनमत का सम्मान बढ़ायेगा, प्रदेश के नवनिर्माण में सहभागी होगा, अवसरवादी ताक़तों को सबक़ सिखायेगा।  कमलनाथ ने मतदाताओं से निर्भीक होकर, बगैर किसी प्रलोभन में आये, प्रदेश की एक नई तस्वीर व पहचान बनाने के लिये मतदान अवश्य करने की बात कही है।  

Dakhal News

Dakhal News 3 November 2020


gwalior, firing again , Sumawali assembly, candidate and supporters

ग्वालियर। उपचुनाव के लिए हो रहे मतदान के बीच ग्वालियर चंबल अंचल की कुछ सीटों पर हिंसा की खबरें हैं। सुमावली विधानसभा के पचौरी का पुरा पोलिंग बूथ पर सुबह फायरिंग हुई थी, वहीं अब टिकटोली का पुरा और जौरी गांव में भी फायरिंग होने की खबर है। इधर, पुलिस ने भिंड जिले में प्रत्याशियों और समर्थकों को नजरबंद कर दिया है।   प्राप्त जानकारी के अनुसार सुमावली विधानसभा के टिकटोली का पुरा पोलिंग बूथ पर भी गोली चलने के समाचार हैं। यहां फायरिंग की घटना में एक बच्ची के गंभीर रूप से घायल होने की सूचना मिली है। वहीं, जौरी गांव के पोलिंग बूथ पर दोबारा गोली चलने के समाचार हैं। पुलिस बल के पहुंचने के पहले ही उत्पाती भाग निकले।   भिंड में प्रत्याशी और समर्थक नजरबंदहंगामे की आशंका को देखते हुए पुलिस ने भिंड में भाजपा, कांग्रेस और बसपा प्रत्याशियों को नजरबंद कर दिया है। मेहगांव विधानसभा क्षेत्र से कांग्रेस प्रत्याशी हेमंत कटारे के भाई योगेश कटारे को गोरमी थाने में बैठाकर रखा गया है। योगेश ने आरोप लगाया है कि पुलिस बाकी नेताओं से कुछ नहीं बोल रही है। वहीं डीएसपी मोतीलाल कुशवाह का कहना है कि मेहगांव विधानसभा क्षेत्र से बाहर का व्यक्ति होने के कारण थाने में बैठाया गया है। योगेश ने पांच पोलिंग की शिकायत की है। वहीं भाजपा प्रत्याशी रणवीर जाटव, कांग्रेस प्रत्याशी मेवाराम जाटव व बहुजन समाज पार्टी के प्रत्याशी यशवंत पटवारी को पुलिस ने पीडब्ल्यूडी सर्किट हाउस में नजरबंद करके रखा है। इसके साथ ही पुलिस ने मेहगांव विधानसभा के गोरमी में भाजपा प्रत्याशी राज्यमंत्री ओपीएस भदौरिया के भतीजे डॉक्टर भारत सिंह उर्फ रिंकू को भी हिरासत में लिया है।

Dakhal News

Dakhal News 3 November 2020


bhopal, After results, Scindia and BJP,accuse each other ,: Kamal Nath

भोपाल। मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा है कि उपचुनाव के परिणाम स्वरुप प्रदेश की जनता भाजपा को करारा जवाब देगी और ज्योतिरादित्य सिंधिया अपने समर्थकों की हार का दोष भाजपा के ऊपर लगाएंगे।   कमलनाथ ने मंगलवार को मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि शिवराज जी आज मतदान के आधा दिन बीत जाने के बाद भी मुझे कोस रहे हैं, मेरी आलोचना कर रहे हैं। वह आज भी झूठ बोलने से बाज नहीं आ रहे हैं। उन्होंने कहा कि वह अपने कार्यकाल के हिसाब पर बात नहीं कर रहे हैं लेकिन झूठ परोसना, गुमराह करना उनकी आदत बन चुका है। इस दौरान कमलनाथ ने बड़ा बयान देते हुए कहा कि मैं आज से ही यह बात कह रहा हूं कि 10 तारीख को ज्योतिरादित्य सिंधिया भाजपा पर आरोप लगाएंगे कि भाजपा ने उनके लोगों को हरा दिया और भाजपा ज्योतिरादित्य सिंधिया पर आरोप लगाएगी कि उनके कारण भाजपा की बुरी हार हुई।   कमलनाथ ने कहा कि यह चुनाव जनता का चुनाव है, जनता ख़ुद प्रदेश के भविष्य को सुरक्षित रखने के लिये यह चुनाव लड़ रही है। मुझे मतदाताओं पर पूरा विश्वास है, आज का मतदाता बेहद जागरूक, किसी भी प्रकार के झूठ, झूठी घोषणाओं व गुमराह करने की राजनीति में आने वाला नहीं है, वह राजनीतिक नहीं है लेकिन राजनीति को बेहतर समझता है। उन्होंने कहा कि भाजपा इन उपचुनावों में बुरी तरह से पीट रही है इसलिए हिंसा, गुंडागर्दी, शराब, प्रशासन, पुलिस, पैसे का पिछले 3 दिन से जमकर उपयोग हो रहा है।  मुझे इसकी निरंतर शिकायतें मिल रही हैं लेकिन मतदाता 10 तारीख को परिणाम के रूप में भाजपा को करारा जवाब देगा।

Dakhal News

Dakhal News 3 November 2020


bhopal, Polling will be held , November 03 ,amid tight security , 28 seats in MP

भोपाल। मध्यप्रदेश में 19 जिलों के 28 विधानसभा क्षेत्रों में होने वाले उप निर्वाचन के लिए रविवार शाम को छह बजे चुनाव प्रचार समाप्त हो गया है। इन क्षेत्रों में आगामी 03 नवम्बर को प्रात: 7 बजे से सायं 6 बजे तक मतदान सम्पन्न होगा। इसके लिए सभी आवश्यक व्यवस्थाएं पूरी कर ली गई हैं। वहीं, मतगणना 10 नवम्बर को होगी और इसी दिन नतीजे घोषित किये जाएंगे।   अपर मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी अरुण कुमार तोमर ने रविवार देर शाम इसकी जानकारी देते हुए बताया कि 3 नवंबर को पूरी सुरक्षा व्यवस्था एवं कोविड-19 की गाइडलाइन का पालन करते हुए मतदान सम्पन्न कराया जायेगा। मतदान केन्द्रों पर केन्द्रीय पुलिस बल की 84 कंपनियां तैनात की गई हैं। दो हजार 500 एसएएफ के जवान, 10 हजार जिला पुलिस बल, 7 हजार होमगार्ड एवं 10 हजार विशेष पुलिस अधिकारी तैनात किए गए हैं।   उन्होंने बताया कि उपचुनावों के लिए प्रचार अभियान की निर्धारित समयावधि मतदान समाप्ति के 48 घंटे पूर्व यानी रविवार शाम छह बजे से समाप्त हो गया है। चुनावी शोरगुल थमने के बाद प्रत्याशी घर घर जाकर जनसंपर्क कर सकते हैं। इन सभी 28 विधानसभा क्षेत्रों में 12 मंत्रियों समेत 355 उम्मीदवारों की किस्मत दांव पर लगी है।   तोमर ने बताया कि दिव्यांग मतदाताओं के लिए पोस्टल बैलेट जारी किए गए हैं। उनके लिए मतदान केन्द्रों पर सहायक एवं व्हील चेयर की भी व्यवस्था की गई है। उप निर्वाचन में कुल 3 हजार 38 क्रिटिकल मतदान केन्द्र एवं 358 वल्नरेबल हेमलेट्स चिन्हित किए गए हैं। मतदान केन्द्रों पर नजर रखने, शांतिपूर्ण, निष्पक्ष, पारदर्शी एवं सुरक्षित मतदान के लिए 250 उडऩदस्ते, 173 एसएसटी एवं 293 पुलिस के नाकों की व्यवस्था की गई हैं। पुलिस द्वारा अब तक एक हजार 493 अवैध हथियार जप्त किए गए हैं। एक लाख 52 हजार से अधिक लाइसेंसी हथियार जमा कराये गये हैं। आठ हजार 730 गैर जमानती वारंट तामील कराये गये हैं। साथ ही 21 करोड़ रुपये से अधिक की अवैध सामग्रियों एवं नकदी की जप्ती की गई हैं। आने-जाने वाले वाहनों की विशेष निगरानी रखी जा रही हैं।

Dakhal News

Dakhal News 1 November 2020


bhopal, MP by-election, Shivraj and Kamal Nath ,pouring full power

भोपाल,। मध्यप्रदेश में विधानसभा की 28 सीटों पर होने वाले उपचुनावों के लिए आगामी तीन नवम्बर को मतदान होना है। इसके लिए रविवार को शाम छह बजे चुनाव प्रचार थम जाएगा, लेकिन चुनाव प्रचार के अंतिम दिन दोनों ही दलों के नेता जोर-शोर से प्रचार-प्रसार में जुटे हुएं हैं। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष एवं कमलनाथ ने चुनाव प्रचार में अपनी पूरी ताकत झोंक दी है और उपचुनाव क्षेत्रों में पार्टी उम्मीदवारों के समर्थन में ताबड़तोड़ जनसभाएं और रोड शो कर रहे हैं।    मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ग्वालियर जिले के डबरा में शनिवार की रात रोड शो किया और उसके बाद रात्रि विश्राम भी वहीं किया। इसके बाद वे रविवार सुबह देवास जिले के हाटपिपल्या विधानसभा क्षेत्र में पहुंचे और लोगों को संबोधित करने के साथ भाजपा प्रत्याशी के समर्थन में लोगों से मुलाकात की। इसके बाद वे मंदसौर जिले के सुवासरा विधानसभा क्षेत्र में पहुंचे ओर शामगढ़ में मां महिषासुर मर्दिनी देवी मंदिर के दर्शनों के बाद क्षेत्र में रोड शो किया। इसके अलावा वे धार जिले के बदनावर पहुंचेंगे, जहां चुनावी सभा को संबोधित करेंगे।    इधर, पूर्व मुख्यमंत्री एवं कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ भी चुनाव प्रचार के अंतिम दिन चम्बल संभाग में प्रचार में जुटे हैं। उन्होंने रविवार को मुरैना विधानसभा से कांग्रेस के प्रत्याशी राकेश मावई के पक्ष में रोड शो किया। रोड शो के दौरान कमलनाथ का काफिला शहर के विभिन्न मार्गों से निकलता हुआ जीवाजी गंज स्थित अग्रसेन पार्क पहुंचा और वहां अग्रसेन की प्रतिमा पर उन्होंने माल्यार्पण किया। उनके साथ रोड शो में कांग्रेस के स्टार प्रचारक आचार्य प्रमोद कृष्णन, प्रदेश कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष रामनिवास रावत और कांग्रेस प्रत्याशी राकेश मावई तथा बड़ी संख्या में कांग्रेस कार्यकर्ता मौजूद रहे। इसके अलावा वे भिण्ड जिले में भी जनसभा को संबोधित करेंगे।

Dakhal News

Dakhal News 1 November 2020


bhopal, Shivraj refutes, Kamal Nath

भोपाल। विधानसभा उपचुनाव की उलटी गिनती शुरू हो गई है। भाजपा और कांग्रेस दोनों ही दल जीत के लिए एड़ी- चोटी का जोर लगा रहे हैं। इस दौरान नेता घोषणा, बयानबाजी के अलावा आरोप प्रत्यारोप भी खूब लगा रहे हैं। हड़बड़ाहट में कई बार नेता गलतियां भी कर रहे हैं। ऐसे में रविवार को पूर्व सीएम कमलनाथ ने एक ट्वीट किया, जिसका मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने खंडन करते हुए उन्हें करारा जवाब दिया है।   दरअसल, कमलनाथ ने रविवार सुबह एक ट्वीट किया था जिसमें उन्होंने शिवराज सरकार पर चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों की रिटायरमेंट उम्र 62 वर्ष से घटाकर पुन: 60 वर्ष करने का फ़ैसले का विरोध किया था। कमलनाथ के इस ट्वीट पर जवाब देते हुए सीएम शिवराज ने एक के बाद एक कई ट्वीट कर खंडन किया और कहा- ‘कमलनाथ जी, रोज सुबह आप आईने में अपने आप को कैसे देख पाते होंगे? अपनी घटिया राजनीति एवं कांग्रेस की हार को सामने देख बौखलाये हुए, आप इस तरह की झूठी अफ़वाहें फैला रहे हैं? ये घिनौना कार्य सिर्फ़ आप और आपकी पार्टी ही कर सकती है। उन्होंने कहा कि प्रदेश की भाजपा सरकार ने ऐसा कोई भी आदेश पारित नहीं किया है। यह पूर्णत: असत्य है कि हमने चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों की सेवानिवृत्ति की आयु घटाई है। वो आज भी 62 वर्ष ही है। अब वक्त आ गया है कि जनता आप जैसी झूठ की राजनीति करने वालों को पहचाने और हमेशा के लिए आप से और कांग्रेस से मुक्ति पा ले। आप तो बस अब छिन्दवाड़ा या फिर दिल्ली वापसी की तैयारी कर लीजिये। वहाँ आप की कोठियों के बड़े-बड़े आईने आपकी राह तक रहे हैं।   आगे अपने ट्वीट में सीएम शिवराज ने कमलनाथ पर निशाना साधते हुए कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री होते हुए भी ट्वीट करने से पहले आपने ये जानना भी उचित नहीं समझा कि जो अधिसूचना सामान्य प्रशासन विभाग द्वारा जारी की गई है, वह मंत्रीगण की निजी स्थापना में मंत्रीगण द्वारा अपने कार्यकाल तक के लिए रखे जाने वाले अस्थाई चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों से संबंधित है।   उन्होंने बताया कि दरअसल सरकार ने उनकी भी कार्य करने की आयु सीमा 40 वर्ष से बढ़ाकर 60 वर्ष की है। इस अधिसूचना का चतुर्थ श्रेणी के स्थायी कर्मचारियों से कोई संबंध नहीं है। उनकी सेवानिवृत्ति की आयु यथावत 62 वर्ष ही है। मेरी सरकार हमेशा से ही कर्मचारी हितैषी सरकार रही है, आज भी है और आगे भी रहेगी। आप की तरह तबादला उद्योग चला कर्मचारियों को परेशान करने वाली सरकार नहीं है। हम सब एक टीम की तरह कंधे से कंधा मिलाकर काम करते है एवं मध्यप्रदेश के कल्याण के लिए प्रतिबद्ध है।

Dakhal News

Dakhal News 1 November 2020


bhopal,Chief minister , former chief minister, increased disputes, Shivraj

भोपाल। चुनाव आयोग द्वारा कमलनाथ से स्टार प्रचारक का दर्जा छीन लेने के बाद प्रदेश की राजनीति में गरमा गई है। कांग्रेस चुनाव आयोग की कार्रवाई अलोकतांत्रिक बता रही है और सुप्रीम कोर्ट जाने की बात कह रही है। इस मामले पर प्रतिक्रिया देते हुए कमलनाथ ने ट्वीट कर कहा है कि अब जनता फैसला करेगी। यह मेरी आवाज को रोकने का, दबाने का प्रयास है। कांग्रेस की आवाज को कुचलने का प्रयास है। सत्य को परेशान किया जा सकता है, पराजित नहीं। जनता सच्चाई का साथ देगी। कमलनाथ के इस बयान पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने पलटवार किया है।   सीएम शिवराज ने शनिवार को मीडिया को बयान देते हुए कमलनाथ पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि यह कमलनाथ की हताशा और निराशा का प्रतीक है, लेकिन उनका अहंकार नहीं जाता। कमलनाथ जी की नजरों में बाकी सब गलत है, उनकी नजरों में उनके नेता राहुल गांधी भी गलत है, उन्हें कोई समझा देता है। उनकी नजरों में चुनाव आयोग गलत है, उनकी नजरों में कर्मचारी अधिकारी गलत है, सही कौन है। उन्होंने कहा कि कमलनाथ धमकाने वाली भाषा में बात करते है, अधिकारियों को देख लूंगा, कर्मचारियों से निपट लूंगा, क्या निपटोगे। सीएम शिवराज ने कहा कि सबसे बड़ी जनता होती है और अधिकारी- कर्मचारियों का भी आत्मसम्मान होता है। उन्होंने नसीहत देते हुए कहा कि यह धमकाना चमकाना बंद करों, मप्र प्रेम की भाषा जानता है। अब चुनाव आयोग ने भी किया तो बदले की भावना से किया, संवैधानिक संस्था पर आरोप लगाते हुए आपकों लज्जा नहीं आती है।    कमलनाथ द्वारा भाजपा पर हार से हताश होकर इस तरह की कार्रवाई के आरोपों पर सीएम शिवराज ने कहा कि भाजपा शानदार सफलता हासिल कर रही है। कमलनाथ जी का दर्द है कि सत्ता चली गई और सत्ता भी कोई जनकल्याण और विकास के लिए नहीं थी, मप्र को लूटने सत्ता अपने पास रखी थी। मप्र को दलालों की मंडी बना दिया था और इसलिए उन्हें यह दुर्दिन देखने पड़े, कम से कम अब तो समझे। 

Dakhal News

Dakhal News 31 October 2020


bhopal,Election Commission, imposed 24-hour ban , campaigning, Minister Dr. Yadav

भोपाल। मध्यप्रदेश में 28 सीटों पर हो रहे उपचुनाव के लिए चुनाव प्रचार चरम पर है और नेता एक-दूसरे पर जमकर आरोप-प्रत्यारोप लगा हैं। ऐसे में वे अपनी मर्यादा भूलकर विवादित बयान भी दे रहे हैं। वहीं, चुनाव आयोग भी अमर्यादित बयान देने वाले नेताओं पर कड़ी कार्रवाई कर रहा है। निर्वाचन आयोग ने कमलनाथ पर विवादित बयान को लेकर बड़ी कार्रवाई करने के बाद अब शिवराज सरकार में उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. मोहन यादव पर भी कार्रवाई की है। आयोग ने उनके चुनाव प्रचार पर 24 घंटे का प्रतिबंध लगा दिया है।   दरअसल, गत 11 अक्टूबर को डॉ. मोहन यादव ने कार्यकर्ताओं की बैठक में कहा था कि अच्छे के साथ अच्छा कदम मिलाकर चलना जानते हैं। यदि कोई बुरा करने जाएगा तो घर से निकालकर लाएंगे। हम जमीन में गाडऩे वाले लोग हैं। निर्वाचन आयोग ने कांग्रेस की शिकायत पर डॉ. यादव को नोटिस जारी कर जवाब मांगा था। चुनाव आयोग डॉ. यादव के जवाब से संतुष्ट नहीं हुआ और शुक्रवार देर रात आदेश जारी कर उनके चुनाव प्रचार पर 24 घंटे के लिए प्रतिबंधित कर दिया। इसके साथ ही आयोग ने कहा कि उम्मीद की जाती है कि एक जिम्मेदार राजनेता के नाते पालन करेंगे। यानी मंत्री डॉ. शनिवार को न तो किसी सभा, जुलूस, रोड शो में हिस्सा ले पाएंगे और न ही किसी टीवी शो, साक्षात्कार या फिर मीडिया से बातचीत कर सकेंगे।   गौरतलब है कि चुनाव आयोग ने शनिवार को ही एक आदेश जारी कर कमलनाथ के स्टार प्रचारक दर्जा समाप्त किया था। उन पर यह कार्रवाई भाजपा उम्मीदवार इमरती देवी को आइटम कहकर संबोधित करने के मामले में की गई थी। इसके अलावा आयोग ने भाजपा प्रत्याशी गिर्राज दंडोतिया और उषा ठाकुर को भी आचार संहिता के उल्लंघन का नोटिस जारी कर 48 घंटे में जवाब मांगा है। दंडोतिया ने गत 22 अक्टूबर को पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ को लेकर कहा था कि जो अपशब्द उन्होंने डबरा में कहे यदि वे चंबल में कहे होते तो जिंदा नहीं जा पाते। इसी तरह मंत्री उषा ठाकुर ने 27 अक्टूबर को पत्रकारवार्ता में मदरसे को लेकर टिप्पणी की। इन दोनों के बयानों को भी आयोग ने आचार संहिता का उल्लंघन माना है।

Dakhal News

Dakhal News 31 October 2020


guna, last assembly, you had given, blow, emphasis slowly, mistake now, Uma Bharti

गुना। पूर्व केंद्रीय मंत्री और वरिष्ठ भाजपा नेता उमा भारती ने कहा कि पिछले विधानसभा चुनाव में जनता ने  भाजपा को जोर का झटका धीरे से दिया था, लेकिन पंद्रह माह में भाजपा ने समझ लिया कि गलती कहां पर हुई थी और आप ने भी देख लिया कि कांग्रेस का जिता कर भूल की थी। अब आपको वह भूल नहीं करनी है,इस बार भाजपा उम्मीदवार को महेंद्र सिंह सिसोदिया को जिताना है।    उमा भारती गुरुवार को  बमौरी विधानसभा की रामपुर कालोनी में भाजपा उम्मीदवार महेंद्र सिंह सिसोदिया को पक्ष में आम सभा को संबोधित कर रहीं थी।उन्होंने सभा के दौरान सिसोदिया को मंच से विजय माला पहनाकर आर्शीवाद दिया। उन्होंने जनता से अपील करते हुए कहा कि आपके आश्वासन पर मैने संजू भैया को विजय माला पहनाई है,आप मेेरे वचन की लाज रखना है।सभा को युवा मोर्चा के प्रदेशाध्यक्ष अभिलाष पांडे ने भी सांबोधित किया। इस मौके पर उमा भारती ने कहा कि पिछले चुनाव में कांग्रेस को सरकार बनने की उम्मीद ही नहीं थी,इसलिए लगातार वह घोषणाएं करती रही लेकिन वह जनता के वादे पूरे नहीं कर सकी। उन्होंने कहा कि आजादी के बाद से कांग्रेस में केवल भ्रष्टाचार ही चल रहा था इसके अलावा कोई काम नहीं हुआ। उन्होंने कहा कि 2003 में मेरी सरकार आने के बाद ही प्रदेश विकास की दिशा में बढ़ा है।    ज्योतिरादित्य मेेरा प्रिय भतीजा  इस दौराना उमा भारती ने ज्योतिरादित्या सिंधिया की जमकर तारीफ करते हुए कहा कि वह मेरा सबसे प्रिय भतीजा है,राजमाता की इच्छा थी कि माधवराव सिंधिया भाजपा में आए लेकिन वह नहीं आए। जो काम पिता ने नहीं किया वह बेटा ने कर दिया इसलिए मेरे लिए दिल से खुशी हुई है। उन्होंने कहा कि ज्योतिरादित्य सिंधिया के साहस से प्रदेश की सरकार गिरी है और महेंद्र सिंह सिसोदिया उनके खास समर्थक हैं उनके कहने पर इन्होंने मंत्री पद  छोड़ दिया इसलिए आप भाजपा को जिताए।   रामराज्य लाना है इसलिए सरकार जरुरी है उमा भारती ने कहा कि हमारा राम मंदिर का सपना पूरा हो गया है अब राममंदिर निर्माण का काम शुरु हो गया है लेकिन गरीब अमीर सम्मान के साथ साथ बैठें, इसके लिए जरुरी है कि रामराज्य को स्थापित करना है। मोदीजी के नेतृत्व में यह काम भी होगा। उन्होंने कहा कि मैं फायर ब्रांड नेत्री हूं लेकिन अभी गंगा परिक्रमा कर रहीं हूं इसलिए वाटर ब्रांड हो गईं हूं, आगामी दो साल बाद फिर से फायर ब्रांड बन जाऊंगी। इस मौके पर महेंद्र सिंह सिसोदिया ने कहा कि प्रदेश में कमलनाथ सरकार से परेशान होकर हमने सरकार गिराई थी,इसके बाद शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व में पांच माह में कई विकास कार्य हुए हैं अभी साड़े तीनसाल बांकी है एक बार फिर मुझे जिताकर शिवराज सरकार को मजबूत करें इसक बाद बमौरी विधानसभा क्षेत्र के विकास की जिम्मेदारी मेरी है।   इस मौके पर भाजयुमो नेता अभिलाष पांडे ने कहा कि पंद्रह माह पहले आपने कांग्रेस की सरकार बनाई थी वह गरीबों की नही सेठियों की सरकार थी,उनके मुख्यमंत्री पर विधायक और मंत्रियों से मिलने समय नहीं था। विकास के बारे में कोई चर्चा नहीं होती थी इसलिए वह सरकार उनके ही पार्टी नेताओं ने गिरा दी है। अब प्रदेश में शिवराज सरकार बनी है जो विकास की प्रतीक है। कमननाथ सरकार ने जो योजनाएं बंद कर दीं थी वह शिवराज सरकार ने फि र से शुरु कर दी हैं।  इस मौके पर बमौरी विधानसभा चुनाव के संचालक अवधेश नायक,जिलाध्यक्ष गजेंद्र सिंह सिकरवार,पूर्व जिलाध्यक्ष राधेश्याम पारीक,पूर्व विधायक ममता मीना,पूर्व जिलाध्यक्ष हरिसिंह यादव, ओएन शर्मा, रमेश मालवीय,हेमराज किरार,महेंद्र सिंह किरार,सुशील दहीफले,गौरव अग्रवाल धमेंद्र सिकरवार आदि मौजूद थे।

Dakhal News

Dakhal News 29 October 2020


bhopal, Kamal Nath, Sanchi, 15 months, we showed, policy and intention

भोपाल। प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने गुरुवार को रायसेन जिले की सांची विधानसभा के गैरतगंज में व सागर जिले की सुरखी विधानसभा के बिलहरा में आयोजित विशाल जनसभाओं को संबोधित किया। सभा को संबोधित करते हुए कमलनाथ भाजपा पर जमकर गरजे। उन्होंने सीएम शिवराज पर निशाना साधते हुए कहा कि जिस क्षेत्र से प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह खुद 17 वर्ष तक सांसद रहे, उस क्षेत्र की पिछड़ी हालत देखकर मुझे आज बेहद दुख हो रहा है। शिवराज जी में भी 40 वर्ष छिंदवाड़ा से सांसद रहा हूँ, जरा एक बार क्षेत्र में विकास की तस्वीर देख कर आइये।   कमलनाथ ने तंज कसते हुए कहा कि जो व्यक्ति अपने क्षेत्र में विकास नहीं कर पाया वो प्रदेश की तस्वीर क्या बदलेगा? भाजपा सरकार किसानों को बर्बाद करने के लिए तीन काले कानून ले आयी लेकिन हमने स्पष्ट कर दिया है कि हमारी सरकार आने पर हम इन्हें मध्य प्रदेश में लागू नहीं करेंगे और समर्थन मूल्य से कम खरीदी को अपराध बनाने वाला कानून लाएँगे। भाजपा की सरकार में आज युवाओं का भविष्य अंधेरे में है, वह ठेका कमीशन नहीं चाहता। वह तो अपने हाथों को काम चाहता है, व्यवसाय का मौका चाहता है। प्रदेश में कोई निवेश नहीं आता था क्योंकि प्रदेश की पहचान माफिया-मिलावटखोरों व भ्रष्टाचार से थी।   कमलनाथ ने सब्जियों के बढ़ रहे दामों पर निशाना साधते हुए कहा कि हमारी सरकार में धान का क्या भाव था और आज क्या भाव है, किसान ख़ुद अंतर देख ले ? आलू - प्याज़ का आज क्या भाव है , इसका फ़ायदा किसे मिल रहा है ? शिवराज सरकार में जितने उद्योग लगाते नहीं थे, उससे ज्यादा बंद हो जाते थे। आज मालनपुर की क्या हालत है, वहाँ की पहचान शराब उद्योगों से हो रही है।

Dakhal News

Dakhal News 29 October 2020


bhopal, Chief Minister

भोपाल। मध्य प्रदेश में विधानसभा उपचुनाव का प्रचार प्रसार जोर शोर से चल रहा है। दिन रात नेता प्रचार प्रसार में लगे हुए है। इस दौरान नेताओं के कई रंग देखने को मिल रहे हैं। कही राजनेता आरोप प्रत्यारोप तो कही अभद्र भाषा और विवादित टिप्पणी करने से भी पीछे नहीं हट रहे हैं। ऐसे ही गुरुवार को दो विपक्षी दल के चेहरों का जो दिलचस्प नजारा देखने को मिला, उसके बाद दोनों की मुलाकात को लेकर सियासी गलियारों में चर्चा तेज हो गई।   दरअसल, पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के बेटे कार्तिकेय का गुरुवार को राजगढ़ जिले के ब्यावरा में आमना सामना हो गया। दोनों ही अपनी पार्टी के प्रत्याशीयों का प्रचार करने यहां आए थे। इस दौरान अचानक दोनों का आमना सामना हो गया। दिग्विजय सिंह को देखकर मुख्यमंत्री के पुत्र कार्तिकेय उनके पास पहुंचे और आशीर्वाद लिया। इस दौरान कार्तिकेय ने दिग्विजय सिंह से उनके पुत्र जयवर्धन सिंह के स्वास्थ्य की जानकारी ली। बता दें कि जयवर्धन सिंह कुछ दिनों पहले कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे, जिसके बाद से उनका ईलाज चल रहा है।    मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के बेटे कार्तिकेय और दिग्विजय की मुलाकात की तस्वीरें राजनीतिक गलियारों में खूब सुर्खियां बटोर रही है। बता दे कि दिग्विजय सिंह और सीएम शिवराज सिंह चौहान मप्र की राजनीति में एक दूसरे के घोर विरोधी माने जाते हैं। राजनीतिक जीवन में दिग्विजय सिंह कई मौकों पर सीएम शिवराज और उनके परिवार पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाते रहे हैं। हालांकि राजनीति से अलग व्यक्तिगत जीवन में जब भी इन दिग्गज नेताओं की मुलाकात हुई दोनों अपनी दुश्मनी को भूलाकर मिले हैं।

Dakhal News

Dakhal News 29 October 2020


bhopal, There will , no poor , MP who lives, pucca house, Shivraj

भोपाल/अनूपपुर। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बुधवार को अनूपपुर विधानसभा क्षेत्र के ग्राम फुनगा में आयोजित जनसभा को संबोधित करते हुए पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि कमलनाथ जी आप सेठ हैं, लेकिन इससे आपको मध्यप्रदेश के किसी बेटे को गाली देने और अपमान करने का हक नहीं मिल जाता है। मध्यप्रदेश की जनता आपकी गालियों और अहंकार को बर्दाश्त नहीं करेगी। इस दौरान उन्होंने यह भी कहा कि मध्यप्रदेश में आगामी तीन साल के अंदर ऐसा कोई गरीब नागरिक नहीं होगा, जो पक्के मकान में न रहता हो।   मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि कांग्रेस के राज में प्रदेश में न सडक़, न पानी और न बिजली थी। कांग्रेस के राज में अगर किसी उद्योग को फायदा हुआ है तो वह है ट्रांसफर-पोस्टिंग उद्योग। इसलिए मैं कहता हूं कि प्रदेश का विकास केवल भारतीय जनता पार्टी के नेतृत्व में ही संभव है।   उन्होंने पूर्व मुख्यमंत्री एवं प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ पर निशाना साधते हुए कहा कि किसी का अपमान करना हमारे संस्कार नहीं हैं, हम तो सबका सम्मान करते हैं। सबका सम्मान ही हमारी संस्कृति है। भारतीय जनता पार्टी का प्रत्येक कार्यकर्ता भारतीय संस्कृति को अच्छी तरह समझता है। उन्होंने कहा कि कमलनाथ जी, आप उद्योगपति और सेठ हैं, लेकिन इससे आपको मध्यप्रदेश के किसी बेटे को गाली देने और अपमान करने का हक नहीं मिल जाता है। मध्यप्रदेश की जनता आपके अहंकार और गालियों को बर्दाश्त नहीं करेगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि आने वाले तीन साल के अंदर मध्यप्रदेश में ऐसा कोई गरीब नागरिक नहीं होगा, जो पक्के मकान में न रहता हो। हर घर में पीने का पानी भी हम पहुंचाएंगे।   शिवराज ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने किसानों को सम्मान निधि के माध्यम से प्रतिवर्ष 6 हजार रुपये देने की योजना बनाई, लेकिन कमलनाथ जी ने प्रदेश के किसानों की सूची नहीं भेजी। मैंने लाखों किसानों के नाम सम्मान निधि में जुड़वाये और प्रदेश सरकार की ओर से 4 हजार रुपये जोडक़र देने का फैसला किया। मैं विकास और जनकल्याण के काम को रुकने नहीं दूंगा। आपको वचन देता हूं कि आपका विश्वास टूटने नहीं दूंगा। भारतीय जनता पार्टी को दिया हुआ आपका वोट न सिर्फ हमारी सरकार को स्थायित्व देगा, बल्कि हमारे यशस्वी प्रधानमंत्री के हाथ भी मजबूत करेगा।

Dakhal News

Dakhal News 28 October 2020


bhopal, There will , no poor , MP who lives, pucca house, Shivraj

भोपाल/अनूपपुर। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बुधवार को अनूपपुर विधानसभा क्षेत्र के ग्राम फुनगा में आयोजित जनसभा को संबोधित करते हुए पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि कमलनाथ जी आप सेठ हैं, लेकिन इससे आपको मध्यप्रदेश के किसी बेटे को गाली देने और अपमान करने का हक नहीं मिल जाता है। मध्यप्रदेश की जनता आपकी गालियों और अहंकार को बर्दाश्त नहीं करेगी। इस दौरान उन्होंने यह भी कहा कि मध्यप्रदेश में आगामी तीन साल के अंदर ऐसा कोई गरीब नागरिक नहीं होगा, जो पक्के मकान में न रहता हो।   मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि कांग्रेस के राज में प्रदेश में न सडक़, न पानी और न बिजली थी। कांग्रेस के राज में अगर किसी उद्योग को फायदा हुआ है तो वह है ट्रांसफर-पोस्टिंग उद्योग। इसलिए मैं कहता हूं कि प्रदेश का विकास केवल भारतीय जनता पार्टी के नेतृत्व में ही संभव है।   उन्होंने पूर्व मुख्यमंत्री एवं प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ पर निशाना साधते हुए कहा कि किसी का अपमान करना हमारे संस्कार नहीं हैं, हम तो सबका सम्मान करते हैं। सबका सम्मान ही हमारी संस्कृति है। भारतीय जनता पार्टी का प्रत्येक कार्यकर्ता भारतीय संस्कृति को अच्छी तरह समझता है। उन्होंने कहा कि कमलनाथ जी, आप उद्योगपति और सेठ हैं, लेकिन इससे आपको मध्यप्रदेश के किसी बेटे को गाली देने और अपमान करने का हक नहीं मिल जाता है। मध्यप्रदेश की जनता आपके अहंकार और गालियों को बर्दाश्त नहीं करेगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि आने वाले तीन साल के अंदर मध्यप्रदेश में ऐसा कोई गरीब नागरिक नहीं होगा, जो पक्के मकान में न रहता हो। हर घर में पीने का पानी भी हम पहुंचाएंगे।   शिवराज ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने किसानों को सम्मान निधि के माध्यम से प्रतिवर्ष 6 हजार रुपये देने की योजना बनाई, लेकिन कमलनाथ जी ने प्रदेश के किसानों की सूची नहीं भेजी। मैंने लाखों किसानों के नाम सम्मान निधि में जुड़वाये और प्रदेश सरकार की ओर से 4 हजार रुपये जोडक़र देने का फैसला किया। मैं विकास और जनकल्याण के काम को रुकने नहीं दूंगा। आपको वचन देता हूं कि आपका विश्वास टूटने नहीं दूंगा। भारतीय जनता पार्टी को दिया हुआ आपका वोट न सिर्फ हमारी सरकार को स्थायित्व देगा, बल्कि हमारे यशस्वी प्रधानमंत्री के हाथ भी मजबूत करेगा।

Dakhal News

Dakhal News 28 October 2020


anuppur,BJP government, definitely does, what it says, Shivraj Singh Chauhan

अनूपपुर। भारतीय जनता पार्टी की सरकार जो कहती है, वह जरूर करती है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने जम्मू- कश्मीर से 370 को हटाकर तथा सुप्रीम कोर्ट के निर्णय के बाद अयोध्या मे श्रीराम जन्मभूमि मन्दिर का निर्माण प्रारंभ करके इसे शब्दश: साबित किया है। अनूपपुर उप चुनाव में भाजपा प्रत्याशी बिसाहूलाल सिंह के चुनाव प्रचार के लिये पहुंचे प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बुधवार की सुबह कार्यकर्ताओं की बैठक को संबोधित करते हुए यह बातें कही। उन्होंने व्यापारियों की समस्याओं को दूर करने की प्रतिबद्धता जाहिर करते हुए इसे व्यापार बोर्ड के माध्यम से दूर करने की बात कही। उन्होंने बिसाहूलाल सिंह को जाने वाला वोट अन्तत: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का हाथ मजबूत करेगा। कमलनाथ हमेशा पैसों की कमी का रोना रोते रहे। यदि पैसों का रोना रोते रहे तो काहे के मुख्यमंत्री।    चौहान ने कांग्रेस पर करारा वार करते हुए कहा कि प्रदेश में भाजपा सरकार बनाने में बिसाहूलाल सिंह का महत्वपूर्ण योगदान है। सरकार की उपलब्धियाँ गिनाते हुए उन्होंने कहा कि मेडिकल- इंजीनियरिंग जैसी उच्च शिक्षा की फीस सरकार भरेगी। वल्लभ भवन को कमलनाथ ने दलालों का अड्डा बना दिया। उन्होने व्यापारी बोर्ड का गठन करके व्यापारियों की समस्या दूर करने की बात कही। मुख्यमंत्री होने के बावजूद चैन से नहीं बैठा हूँ। चौथी बार मुख्यमंत्री बना हूँ,यह प्रयास है कि प्रदेश की जनता के लिये सर्वश्रेष्ठ कार्य कर सकूं।   इस दौरान बिसाहूलाल सिंह, मीना सिंह, राजेन्द्र शुक्ला, सांसद गणेश सिंह, हिमाद्री सिंह, मनीषा सिंह, रामलाल रौतेल, रुपमति सिंह, ब्रजेश गौतम, राजेश पाण्डेय, बुद्धसेन पटेल, नरेन्द्र मरावी, सुदामा सिंह, दिलीप जायसवाल, अनिल गुप्ता, विक्रम सिंह, रामदास पुरी, आधाराम वैश्य,उप चुनाव मीडिया प्रभारी मनोज द्विवेदी,जितेन्द्र सोनी, राम अवध सिंह, मिथिलेश पयासी, आशुतोष अग्रवाल सहित कार्यकर्ताओं उपस्थित रहे।

Dakhal News

Dakhal News 28 October 2020


shivpuri, Amendment, agricultural law ,fatal strike , farmers, Sachin Pilot

शिवपुरी। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और राजस्थान के पूर्व उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट ने कहा है कि केंद्र की मोदी सरकार द्वारा कृषि संशोधन बिल में जो संशोधन किया गया हैस वह किसानों के ऊपर घातक प्रहार है। मंडी बंद, हाट बंद, मजदूरी बंद, समर्थन मूल्य बंद हो जाएगा तो यह किसानों के लिए यह घातक रहेगा। कांग्रेस नेता सचिन पायलट ने यह बात मंगलवार को शिवपुरी जिले की नरवर और सतनवाड़ा में अलग-अलग आमसभाओं में कही। उन्होंने जिले के पोहरी और करैरा विधानसभा सीट के लिए हो रहे उपचुनाव के लिए यहां पर कांग्रेस प्रत्याशियों के पक्ष में वोट मांगे।    इस दौरान सतनवाड़ा में एक आमसभा में कांग्रेस नेता सचिन पायलट ने भाजपा को निशाने पर लेते हुए कहा कि मप्र में शिवराज सरकार पिछले दरवाजे से सरकार में आ गई है लेकिन लोकतंत्र में आखिर में जनता के पास ही वोट मांगने के लिए नेता को आना पड़ता है। लोकतंत्र में जनता जनार्धन होती है। इसलिए इस विधानसभा उपचुनाव में जनता सोच समझकर निर्णय करे और देश को विभाजित करने वाली ताकतों को परस्त करें। उन्होंने कांग्रेस के पक्ष में वोट देने की अपील करते हुए कहा कि यही पार्टी है जो देश की आजादी के पहले से जनहित व देशहित में काम कर रही है।    भाजपा को निशाने पर लेते हुए सचिन पायलट ने कहा कि दो साल पहले 2 अप्रैल को जो घटना घटित हुई थी वह एक सोच का प्रतीक था कि संविधान व सांसद के बाहर जो ऐसी ताकतें हैं वह गरीब से उससे उसके अधिकार छीनने की ताकत रखते हैं। यह ताकत नागपुर से आती है जो लोगों से सरकार को कठपुतली बनाकर रखना चाहती है। ऐसी सोच वाली सरकारों को उखाड़ना है। इस मौके पर आमसभा में कांग्रेस के जिला पदाधिकारी व अन्य लोग यहां पर मौजूद रहे। 

Dakhal News

Dakhal News 27 October 2020


bhopal, grand memorial ,Maharani Padmavati , built in Bhopal

भोपाल। मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में मनुआभान की टेकरी पर चित्तौड़ की महारानी पद्मावती का भव्य स्मारक बनाया जाएगा और उनके शैर्य की गाथाएं अगले शिक्षा सत्र से प्रदेश की पाठ्यपुस्तकों में शामिल होंगी। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सोशल मीडिया के माध्यम से इसकी घोषणा की। साथ ही उन्होंने ऐलान किया कि राज्य सरकार की ओर से प्रतिवर्ष 'महाराणा शौर्य पुरुस्कार' और 'पद्मिनी पुरुस्कार' दिये जाएंगे। पुरस्कार स्वरूप दो लाख रुपये की नगद राशि प्रदान की जाएगी।    मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मंगलवार को ट्वीट करते हुए कहा है कि - ‘भोपाल के मनुआभान की टेकरी पर महारानी पद्मावती के स्मारक के लिए मैंने भूमि आरक्षित की है, वहां भव्य स्मारक बनाया जायेगा। समाज के पदाधिकारियों का एक प्रतिनिधि मंडल बने, जो स्मारक के स्वरूप की रूपरेखा बनाएं, ताकि हम सबकी अपेक्षा के अनुरूप उनका स्मारक बन सके।’ मुख्यमंत्री ने अपने अगले ट्वीट में लिखा है कि - ‘महारानी पद्मावती के जीवन की शौर्य गाथा को अगले सत्र की पाठ्य पुस्तक में सम्मिलित किया जायेगा। इसके अलावा 'महाराणा शौर्य पुरुस्कार' और 'पद्मिनी पुरुस्कार' प्रतिवर्ष मध्यप्रदेश सरकार की ओर से प्रदान किया जायेगा। पुरस्कार स्वरूप दो लाख रुपये नगद राशि प्रदान की जायेगी।’   उल्‍लेखनीय है क‍ि महारानी पद्मावती चित्तौड़ की रानी थीं। उन्हें पद्मिनी के नाम से भी जाना जाता था। पद्मावती सिंहल द्वीप के राजा गंधर्वसेन की पुत्री थी और चित्तौड़ के राजा रतन सिंह योगी से उनका विवाह हुआ था। पद्मावती 13 वीं -14 वीं सदी की महान भारतीय रानी थी। उनके साहस और बलिदान की गौरवगाथाएं इतिहास में अमर हैं। कहा जाता है कि खिलजी वंश का शासक अलाउद्दीन खिलजी पद्मावती को पाना चाहता था। माना जाता है कि चित्तौड़ में खिलजी के हमले के वक्त अपने सम्मान को बचाने के लिए उन्होंने 1303 में जौहर किया था।

Dakhal News

Dakhal News 27 October 2020


bhopal, CM Shivraj ,retaliated , Kamal Nath

भोपाल। मध्य प्रदेश में इन दिनों विधानसभा उपचुनाव को लेकर घमासान मचा हुआ है। राजनेताओं के बीच बयानबाजी और एक दूसरे पर आरोप प्रत्यारोप खूब जोरों से जारी है। इस बीच कांग्रेस लगातार प्रशासन और पुलिस पर भाजपा के पक्ष में काम करने का आरोप लगा रही है। पूर्व सीएम कमलनाथ ने तो अधिकारियों को देख लेने की धमकी तक दे डाली। कमलनाथ के इस बयान पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने चुप्पी तोड़ते हुए पलटवार किया है और चुनाव आयोग से कमलनाथ के बयान पर कार्यवाई की मांग की है।   मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मंगलवार को मीडिया को दिए अपने बयान में कहा कि अपनी संभावित पराजय से बौखला कर कांगेस के नेता कमलनाथ और दिग्विजय सिंह आजकल अधिकारियों- कर्मचारियों को धमका रहे हैं। रोज धमकी दी जा रही है, हम देख लेंगे, हम निपटा देंगे, हम निपट लेंगे। आखिर उनका भी आत्म सम्मान होता है। उनके मनोबल को तोडऩे की कोशिश की जा रही है, उनका अपमान किया जा रहा है। उन्होंने आयोग से आग्रह करते हुए कहा कि धमकाना भी चुनाव आचार संहिता का उल्लंघन है, इसलिए मैं चुनाव आयोग से निवेदन करता हूं कि स्वत: संज्ञान ले और धमकाने वालों के खिलाफ कार्यवाई करें।   गौरतलब है कि सोमवार को चुनाव आयोग को शिकायती पत्र भेजने के बाद मीडिया से बातचीत करते हुए कमलनाथ ने अपने बयान में कहा था कि इस चुनाव में हमारा मुकाबला भाजपा से ही नहीं बल्कि प्रशासनिक तंत्र से भी है। पुलिस- प्रशासन और अफसर वर्ग उनकी मदद कर रहे हैं। मैंने चुनाव आयोग को इस संबंध में पत्र लिखा है कि यह निष्पक्ष चुनाव होना चाहिए। छोटे-छोटे शासकीय कर्मचारियों पर भाजपा के पक्ष में काम करने के लिए दबाव डाला जा रहा है। कमलनाथ ने प्रशासनिक अधिकारियों के लिए चेतावनी भरे लहजे में कहा कि भाजपा के पक्ष में काम करने वाले अधिकारी यह जान ले कि 10 तारीख के बाद 11 भी आएगी।

Dakhal News

Dakhal News 27 October 2020


bhopal, Election Commission ,issued notice ,eetu Patwari ,violation of rules

भोपाल। मध्य प्रदेश में होने वाले विधानसभा उपचुनाव से पहले राजनेताओं द्वारा नियमों की खूब धज्जियां उड़ाई जा रही है। आए दिन ऐसे मामले सामने आ रहे हैं, जिस पर चुनाव आयोग सख्ती से नजर भी रख रहा है। ऐसे ही एक मामले में अब पूर्व मंत्री जीतू पटवारी को चुनाव आयोग ने नोटिस जारी किया है।   पूर्व मंत्री और कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष जीतू पटवारी की उपचुनाव से पहले मुश्किलें बढ़ गई हैं। प्रचार के दौरान आदर्श आचार संहिता (एमसीसी) के उल्लंघन के लिए चुनाव आयोग ने उन्हें नोटिस जारी किया है। चुनाव आयोग के रिटर्निंग अधिकारी ने पूर्व मंत्री जीतू पटवारी को बिना अनुमति चुनाव प्रचार में वाहनों के उपयोग पाए जाने पर नोटिस दिया है। यह वाहन सांवेर से कांग्रेस प्रत्याशी प्रेमचंद गुड्डू के लिए प्रचार में उपयोग किये गए थे। अब पटवारी को 24 घंटे के अंदर नोटिस का जवाब देना है। दरअसल पिछले दिनों यहां कांग्रेस की जनसभा आयोजित हुई थी, सीट को जीतने के लिए कांग्रेस ने पूरी ताकत झोंक दी है। जनसभा के दौरान जीतू ने आयोग की अनुमति के बिना खूब वाहनों का उपयोग किया। जनसभा में जीतू पटवारी ने सीएम शिवराज और और सिंधिया पर जमकर बरसे थे।

Dakhal News

Dakhal News 24 October 2020


bhopal, Election Commission ,issued notice ,eetu Patwari ,violation of rules

भोपाल। मध्य प्रदेश में होने वाले विधानसभा उपचुनाव से पहले राजनेताओं द्वारा नियमों की खूब धज्जियां उड़ाई जा रही है। आए दिन ऐसे मामले सामने आ रहे हैं, जिस पर चुनाव आयोग सख्ती से नजर भी रख रहा है। ऐसे ही एक मामले में अब पूर्व मंत्री जीतू पटवारी को चुनाव आयोग ने नोटिस जारी किया है।   पूर्व मंत्री और कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष जीतू पटवारी की उपचुनाव से पहले मुश्किलें बढ़ गई हैं। प्रचार के दौरान आदर्श आचार संहिता (एमसीसी) के उल्लंघन के लिए चुनाव आयोग ने उन्हें नोटिस जारी किया है। चुनाव आयोग के रिटर्निंग अधिकारी ने पूर्व मंत्री जीतू पटवारी को बिना अनुमति चुनाव प्रचार में वाहनों के उपयोग पाए जाने पर नोटिस दिया है। यह वाहन सांवेर से कांग्रेस प्रत्याशी प्रेमचंद गुड्डू के लिए प्रचार में उपयोग किये गए थे। अब पटवारी को 24 घंटे के अंदर नोटिस का जवाब देना है। दरअसल पिछले दिनों यहां कांग्रेस की जनसभा आयोजित हुई थी, सीट को जीतने के लिए कांग्रेस ने पूरी ताकत झोंक दी है। जनसभा के दौरान जीतू ने आयोग की अनुमति के बिना खूब वाहनों का उपयोग किया। जनसभा में जीतू पटवारी ने सीएम शिवराज और और सिंधिया पर जमकर बरसे थे।

Dakhal News

Dakhal News 24 October 2020


bhopal,Chief Minister retorted, Kamal Nath ,confusing the farmers

भोपाल। मध्यप्रदेश में विधानसभा की 28 सीटों पर हो रहे उपचुनाव को लेकर राजनीतिक घमासान जारी है। प्रदेश की दोनों प्रमुख पार्टियों भाजपा और कांग्रेस के नेता एक-दूसरे पर जमकर निशाना साध रहे हैं। इसी क्रम में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने पूर्व मुख्यमंत्री एवं प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ के बयान को लेकर उन पर पलटवार किया है। उन्होंने कहा है कि कमलनाथ जी झूठ बोलकर किसानों को भ्रमित कर रहे हैं।   मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शनिवार को ट्वीट के माध्यम से कमलनाथ पर पलटवार किया है। उन्होंने कहा है कि ‘कमलनाथ जी झूठ बोल रहे हैं। अब उनकी सरकार नहीं है तो किसानों के कल्याण की बात कर रहे हैं। पहले के वचन उन्होंने निभाये नहीं और अब नये वचन देने लगे। सरकार तो आनी नहीं है। कुछ भी कह दो। कृषि कानूनों को लेकर किसानों को भ्रमित किया जा रहा है कि मंडियां बंद हो जाएंगी। एमएसपी बंद हो जाएगी, जबकि माननीय प्रधानमंत्री जी, केन्‍द्रीय कृषि मंत्री स्वयं कह चुके हैं कि मंडियां बंद नहीं होंगी और एमएसपी भी जारी रहेगी। इसके बाद भी कृषि कानूनों का अंधा विरोध किया जा रहा है। मैं पूछना चाहता हूं कि जब उनकी 15 महीने तक सरकार थी, तब उन्होंने किसानों के लिए कोई योजना क्यों नहीं बनाई? कमलनाथ जी झूठ बोल रहे हैं और नये वादे कर किसानों को भ्रमित करने की कोशिश कर रहे हैं।   मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने एक अन्य ट्वीट में कमलनाथ द्वारा उन्हें उद्योगपति बताये जाने को लेकर पलटवार किया है। उन्होंने कहा है कि ‘कमलनाथ जी याद कीजिए, आपकी पार्टी के ही एक नेता ने कुछ दिन पहले कहा था कि शिवराज भूखा-नंगा है और आप देश के दो नंबर के उद्योगपति हैं। यदि आपको उंगली उठाना ही है तो पहले अपनी पार्टी के नेताओं पर उठाइये।’

Dakhal News

Dakhal News 24 October 2020


bhopal,Chief Minister retorted, Kamal Nath ,confusing the farmers

भोपाल। मध्यप्रदेश में विधानसभा की 28 सीटों पर हो रहे उपचुनाव को लेकर राजनीतिक घमासान जारी है। प्रदेश की दोनों प्रमुख पार्टियों भाजपा और कांग्रेस के नेता एक-दूसरे पर जमकर निशाना साध रहे हैं। इसी क्रम में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने पूर्व मुख्यमंत्री एवं प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ के बयान को लेकर उन पर पलटवार किया है। उन्होंने कहा है कि कमलनाथ जी झूठ बोलकर किसानों को भ्रमित कर रहे हैं।   मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शनिवार को ट्वीट के माध्यम से कमलनाथ पर पलटवार किया है। उन्होंने कहा है कि ‘कमलनाथ जी झूठ बोल रहे हैं। अब उनकी सरकार नहीं है तो किसानों के कल्याण की बात कर रहे हैं। पहले के वचन उन्होंने निभाये नहीं और अब नये वचन देने लगे। सरकार तो आनी नहीं है। कुछ भी कह दो। कृषि कानूनों को लेकर किसानों को भ्रमित किया जा रहा है कि मंडियां बंद हो जाएंगी। एमएसपी बंद हो जाएगी, जबकि माननीय प्रधानमंत्री जी, केन्‍द्रीय कृषि मंत्री स्वयं कह चुके हैं कि मंडियां बंद नहीं होंगी और एमएसपी भी जारी रहेगी। इसके बाद भी कृषि कानूनों का अंधा विरोध किया जा रहा है। मैं पूछना चाहता हूं कि जब उनकी 15 महीने तक सरकार थी, तब उन्होंने किसानों के लिए कोई योजना क्यों नहीं बनाई? कमलनाथ जी झूठ बोल रहे हैं और नये वादे कर किसानों को भ्रमित करने की कोशिश कर रहे हैं।   मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने एक अन्य ट्वीट में कमलनाथ द्वारा उन्हें उद्योगपति बताये जाने को लेकर पलटवार किया है। उन्होंने कहा है कि ‘कमलनाथ जी याद कीजिए, आपकी पार्टी के ही एक नेता ने कुछ दिन पहले कहा था कि शिवराज भूखा-नंगा है और आप देश के दो नंबर के उद्योगपति हैं। यदि आपको उंगली उठाना ही है तो पहले अपनी पार्टी के नेताओं पर उठाइये।’

Dakhal News

Dakhal News 24 October 2020


bhopal, Now Imrati told, Kamal Nath,mother-sister, video going viral , social media

भोपाल। मध्य प्रदेश में विधानसभा उपचुनाव से पहले आयटम को लेकर मचा बवाल थमता नजर नहीं आ रहा है। डबरा में आयोजित एक जनसभा में पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने मंत्री इमरती देवी को आयटम संबोधित कर दिया। कमलनाथ के बयान से आहत हुई इमरती देवी भी अपनी जुबान पर कंट्रोल नहीं कर पाई और कमलनाथ की स्वर्गीय मां- बहन के लिए अभद्र भाषा का उपयोग करते हुए उन्हें आयटम बता डाला। इमरती का यह वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है।   दरअसल कांग्रेस नेता आचार्य प्रमोद ने अपने ट्वीटर अकाउंट पर एक वीडियो साझा किया है। वीडियो में इमरती देवी कह रही है कि 'वह (कमलनाथ) बंगाली आदमी है, मध्य प्रदेश आया, सिर्फ मुख्यमंत्री बनने के लिए। उस व्यक्ति को बोलने की सभ्यता नहीं है, वह मुख्यमंत्री पद से हटने के बाद से पागल हो गए हैं। इसके साथ ही उन्होंने कमलनाथ की मां और बहन के लिए कहा कि ‘क्या कह सकते हैं उनकी मां और बहन होंगी बंगाल की आइटम, हमें यह पता थोड़ी है। इमरती के इस वीडियो पर कांग्रेस ने उन्हें आड़े हाथों लेना शुरु कर दिया है और उनके बयान पर आपत्ति जताई है। ' इस वीडियो को साझा करते हुए आचार्य प्रमोद ने लिखा है कि ‘छिन्दवाड़ा से 10 बार लोकसभा पहुँचने वाले, संसद के "वरिष्ठ" सदस्य पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ और उनकी स्वर्गीय माँ के लिये इमरती देवी के "मधुर" वचन। इमरती देवी का ये वीडियो अब सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है। जिसके बाद अब संभावना है कि कांग्रेस भी इस पर खामोश नहीं बैठेगी और इमरती के खिलाफ मोर्चा खोलेगी।

Dakhal News

Dakhal News 22 October 2020


bhopal, Scindia demanded ,election action, against Kamal Nath

भोपाल। शिवराज सरकार में मंत्री इमरती देवी को आइटम बताने वाले बयान के बाद कमलनाथ भाजपा नेताओं के निशाने पर हैं। वरिष्ठ भाजपा नेता और राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया भी अपनी समर्थक नेता के साथ हुए दुर्व्यवहार से आहत हैं और कमलनाथ को सीधे चुनौती दे रहे हैं। वहीं अब सिंधिया ने चुनाव आयोग से कमलनाथ के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई की मांग की है।.   ज्योतिरादित्य सिंधिया ने ट्वीट कर कहा है कि ‘ मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ जी ने जिस तरह से एक सभा में मध्य प्रदेश सरकार की कैबिनेट मंत्री इमरती देवी जी का सार्वजनिक रूप से अपमान किया था, उसे कांग्रेस की दलित विरोधी सोच स्पष्ट हो गई थी। आज चुनाव आयोग ने इस संबंध में कमलनाथ जी को नोटिस जारी कर जो जवाब तलब किया है। एक अन्य ट्वीट कर उन्होंने चुनाव आयोग से कार्यवाई की मांग करते हुए कहा ‘ उसके बाद मेरी मांग है कि चुनाव आयोग ऐसे  महिला विरोधी बयानों को गंभीरता से लें, और सख्त कार्यवाही करें जिससे आगे किसी की हमारी मातृ शक्ति का अपमान करने की हिम्मत ना हो। गौरतलब है कि कमलनाथ के इस बयान कांग्रेस नेता भी नराजगी जाहिर कर चुके हैं। लेकिन कमलनाथ ने साफ कहा है कि वह माफी नहीं मांगेंगे।

Dakhal News

Dakhal News 22 October 2020


bhopal,Home Minister, Narottam

भोपाल। मध्य प्रदेश के गृह एवं जेल मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने बड़ा बयान दिया है। गुरुवार को मीडिया से बातचीत करते हुए उन्होंने कांग्रेस विधायकों की तोड़-फोड़ को लेकर कहा कि हमारे संपर्क में बहुत लोग हैं, लेकिन हमें ओवरलोड नहीं होना। उन्होंने कहा है कि हमारे पास पर्योत्त संख्या बल है और हम उपचुनाव में सभी 28 सीटें जीत रहे हैं।   इस दौरान बिसहुलाल का एक और वीडियो वायरल होने पर गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कांग्रेस पर तंज कसते हुए कहा कि फेंक वीडियो, झूठे वीडियो जारी करना कांग्रेस की स्टाइल है। यह आठ साल पुराना वीडियो है, उनका पूरा जीवन सार्वजनिक है, उन पर एक भी पुलिस केस दर्ज नहीं है। इमरती देवी को लेकर कमलनाथ के बयान पर मंत्री मिश्रा ने कहा कि यह तो तय की कमलनाथ ने गलत बोला है। चुनाव आयोग, राहुल गांधी, महिला आयोग सभी कह चुके हैं कि यह आपत्तिजनक है। यहां तक कांग्रेस के सीनियर नेता मानक अग्रवाल ने कहा दिया कि यह ठीक नहीं। कमलनाथ का यह बयान उनका वाटरलू साबित होगा। कमलनाथ का महिलाओं से राखी बंधवाने पर बोले कि कमलनाथ पुन: वैसी ही गलती है जैसी गलती वो पहले कर गए है, सडक़ पर आ जाओ वाली, यह बयान उनके लिए वाटरलू साबित होगा।   कोरोना की स्थिति बेहतरइस दौरान मंत्र मिश्रा ने प्रदेश में कोरोना की स्थिति के बारे में जानकारी देते हुए कहा कि मप्र में कोरोना का रिकवरी रेट 90 फीसदी हो गई है। मप्र की सरकार कोविड को लेकर अच्छा काम कर रही है, कई जगह ये रेट 100 फीसदी तक पहुंच गया है। उन्होंने कहा कि रिकवरी रेट बढऩे के बाद भी हमें सावधानी रखना चाहिए, प्रधानमंत्री द्वारा बताई गई हर बात का पालन करना चाहिए।1 नवम्बर से जेल बंद कैदियों से मिल सकेंगे परिजनोंइस दौरान मंत्र मिश्रा ने बताया कि जेल में बंद बंदियों के लिए त्योहार से पहले सरकार ने बड़ा फैसला किया है। जेल में बंद 45 हजार बंदियों के परिजन 1 नवंबर से जेल में मिलाई कर सकेंगे। इसके अलावा टेलीफोन ओर वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये भी कैदियों से  मुलाकात जारी रहेगी। गौरतलब है कि कोरोना संक्रमण के चलते शासन ने कैदियों के परिजनों से मुलाकात पर रोक लगा दी थी। कुछ समय बाद कैदियों की सुविधा के लिए वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए बातचीत की सुविधा शुरू की गई थी। लेकिन अब परिजन फिर से जेल में जाकर कैदियों से मिल सकेंगे। 

Dakhal News

Dakhal News 22 October 2020


bhopal,Home Minister, Narottam

भोपाल। मध्य प्रदेश के गृह एवं जेल मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने बड़ा बयान दिया है। गुरुवार को मीडिया से बातचीत करते हुए उन्होंने कांग्रेस विधायकों की तोड़-फोड़ को लेकर कहा कि हमारे संपर्क में बहुत लोग हैं, लेकिन हमें ओवरलोड नहीं होना। उन्होंने कहा है कि हमारे पास पर्योत्त संख्या बल है और हम उपचुनाव में सभी 28 सीटें जीत रहे हैं।   इस दौरान बिसहुलाल का एक और वीडियो वायरल होने पर गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कांग्रेस पर तंज कसते हुए कहा कि फेंक वीडियो, झूठे वीडियो जारी करना कांग्रेस की स्टाइल है। यह आठ साल पुराना वीडियो है, उनका पूरा जीवन सार्वजनिक है, उन पर एक भी पुलिस केस दर्ज नहीं है। इमरती देवी को लेकर कमलनाथ के बयान पर मंत्री मिश्रा ने कहा कि यह तो तय की कमलनाथ ने गलत बोला है। चुनाव आयोग, राहुल गांधी, महिला आयोग सभी कह चुके हैं कि यह आपत्तिजनक है। यहां तक कांग्रेस के सीनियर नेता मानक अग्रवाल ने कहा दिया कि यह ठीक नहीं। कमलनाथ का यह बयान उनका वाटरलू साबित होगा। कमलनाथ का महिलाओं से राखी बंधवाने पर बोले कि कमलनाथ पुन: वैसी ही गलती है जैसी गलती वो पहले कर गए है, सडक़ पर आ जाओ वाली, यह बयान उनके लिए वाटरलू साबित होगा।   कोरोना की स्थिति बेहतरइस दौरान मंत्र मिश्रा ने प्रदेश में कोरोना की स्थिति के बारे में जानकारी देते हुए कहा कि मप्र में कोरोना का रिकवरी रेट 90 फीसदी हो गई है। मप्र की सरकार कोविड को लेकर अच्छा काम कर रही है, कई जगह ये रेट 100 फीसदी तक पहुंच गया है। उन्होंने कहा कि रिकवरी रेट बढऩे के बाद भी हमें सावधानी रखना चाहिए, प्रधानमंत्री द्वारा बताई गई हर बात का पालन करना चाहिए।1 नवम्बर से जेल बंद कैदियों से मिल सकेंगे परिजनोंइस दौरान मंत्र मिश्रा ने बताया कि जेल में बंद बंदियों के लिए त्योहार से पहले सरकार ने बड़ा फैसला किया है। जेल में बंद 45 हजार बंदियों के परिजन 1 नवंबर से जेल में मिलाई कर सकेंगे। इसके अलावा टेलीफोन ओर वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये भी कैदियों से  मुलाकात जारी रहेगी। गौरतलब है कि कोरोना संक्रमण के चलते शासन ने कैदियों के परिजनों से मुलाकात पर रोक लगा दी थी। कुछ समय बाद कैदियों की सुविधा के लिए वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए बातचीत की सुविधा शुरू की गई थी। लेकिन अब परिजन फिर से जेल में जाकर कैदियों से मिल सकेंगे। 

Dakhal News

Dakhal News 22 October 2020


gwalior, Union Minister, Narendra Singh Tomar, former CM Kamal Nath,FIR

ग्वालियर। राज्य के महाधिवक्ता पुरुषेन्द्र कौरव ने ग्वालियर हाईकोर्ट में यह आश्वासन दिया है कि कोविड-19 की गाइडलाइन के उल्लंघन के मामले में केंद्रीय मंत्री नरेंद्रसिंह तोमर एवं पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ के खिलाफ एफआईआर दर्ज की जाएगी। इससे पूर्व ग्वालियर हाईकोर्ट ने गाइडलाइन के उल्लंघन से संबंधित मामले में अपना फैसला सुनाया।    ग्वालियर हाईकोर्ट की युगल पीठ ने बुधवार को कोविड-19 की गाइडलाइन के उल्लंघन के मामले में अपना फैसला सुना दिया है। इसके बाद प्रदेश के महाधिवक्ता पुरुषेन्द्र कौरव ने हाईकोर्ट में आश्वासन दिया है कि दोनों के खिलाफ केस दर्ज किया जाएगा और केस दर्ज कर 23 अक्टूबर तक पालन प्रतिवेदन रिपोर्ट पेश की जाएगी। हाईकोर्ट ने प्रिसिंपल रजिस्ट्रार को आदेश दिया है कि आदेश की कॉपी ग्वालियर-चंबल संभाग के 8 जिला कलेक्टर व विदिशा कलेक्टर को भेजी जाए। कोर्ट ने यह भी स्पष्ट कर दिया है कि सभा में जितने लोगों के आने की इजाजत दी है, उतने ही आ सकेंगे। सभा में आने वाले लोगों को सबसे पहले मास्क व सेनेटाइजर देना होगा। कोविड-19 की गाइडलाइन में किसी भी तरह की ढिलाई नहीं बरती जाएगी। हाईकोर्ट ने कहा है कि उल्लंघन करने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाए।

Dakhal News

Dakhal News 21 October 2020


bhopal, Narottam said, two types,elderly and old people, Congress, targeted , Kamal Nath

भोपाल। पूर्व सीएम कमलनाथ द्वारा प्रदेश की मंत्री इमरती देवी के खिलाफ विवादित बयान पर राहुल गांधी की नाराजगी के बाद भी कमलनाथ अपनी बात पर अडिग है। कमलनाथ के इस रवैये पर प्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने निशाना साधा है।   मंत्री मिश्रा ने बुधवार को मीडिया से बातचीत करते हुए कमलनाथ और राहुल गांधी के बयानों पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि कांग्रेस दो तरह की है। एक बुजुर्ग, दूसरे प्रौढ़ लोग है, जिसमे राहुल गांधी शामिल है। उन्होंने कहा कि कमलनाथ लंबे समय से राहुल गांधी को अनदेखा कर रहे है, शायद उम्र हावी हो रही हो गई इसलिए ये हो रहा है। पहले कर्ज माफी का कहा लेकिन कर्ज माफी नहीं किया, लोकसभा में कमलनाथ सिर्फ नकुल को जीताने में लगे रहे, तीसरा की कमलनाथ ने राहुल की तस्वीर ही हटा दी और अब चौथी बार यह हुआ। मंत्री मिश्रा ने तंज कसते हुए कहा कि अब चार तारीख का चार्टर बुक होगा जिससे कमलनाथ का जाना तय है। परिणाम जो भी हो, कुछ दिनों में कांग्रेस की खेमे बाजी दिखने वाली है।   इमरती देवी के अपमान पर कमलनाथ के माफ़ी नही मांगने पर मंत्री मिश्रा ने कहा कि नवदुर्गा के पावन पर्व पर नारी शक्ति का अपमान जनता सहन नही करेगी। कांग्रेस चाहती है की कमलनाथ की असफलता छुपी रहे। वहीं बिसहुलाल की गलती पर नरोत्तम मिश्रा के द्वारा माफ़ी मांगने पर कहा कि में कोई कमलनाथ थोड़ी हूं जो माफ़ी नही मांगूगा। आज से शुरू हो रहे भाजपा के बूथ सम्मलेन पर गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि हम तो और नीचे तक उतर गए हैं, हमने पेज प्रभारी तक रणनीति बनाई है। हम एक- एक खोपड़ी और झोपड़ी तक जाएंगे।

Dakhal News

Dakhal News 21 October 2020


bhopal, National Women

भोपाल। मध्य प्रदेश की मंत्री और डबरा से भाजपा उम्मीदवार इमरती देवी को आयटम बोलकर विवादों में घिरे पूर्व सीएम कमलनाथ को राष्ट्रीय महिला आयोग ने नोटिस भेजा था, साथ ही आयोग ने जवाब तलब भी किया है। कमलनाथ द्वारा नोटिस के जवाब पर आयोग की अध्यक्ष रेखा शर्मा ने नाराजगी जताई है और कमलनाथ की तुलना फिल्मी विलेन से की है।    राष्ट्रीय महिला आयोग की अध्यक्ष रेखा शर्मा ने मध्य प्रदेश के पूर्व सीएम कमल नाथ द्वारा इमरती देवी पर उनके बयान के स्पष्टीकरण से नाराजगी जताई है। उन्होंने कमलनाथ की तुलना फिल्मी विलेन से की है और कहा कि पूरे देश ने देखा कि किस तरह से कमलनाथ मंच से इमरती देवी पर बयान देने के बाद हंस रहे थे। उन्होंने कहा कि उनकी हंसी किसी फिल्मी विलेन की तरह थी। जिस तरह से फिल्मी विलेन महिलाओं को पीडि़त करने के बाद हंसते हैं, उसी तरह कमलनाथ और उनके साथ मंच पर मौजूद लोग ऐसे ही हंस रहे थे। रेखा शर्मा ने कहा कि हमने चुनाव आयोग को भी पत्र लिखकर उनके खिलाफ कार्रवाई करने को कहा है।   उन्होंने कहा है कि मैंने कमलनाथ का जवाब पढ़ा है, जिसमें उन्होंने कहा है कि मैं उनके विपक्ष में हूं, उनका नाम कैसा ले सकता हूं। उनके पास एक लिस्ट थी, जिसमें आइटम के अनुसार लिखा था, इसी तरह वे आइटम वन और आइटम टू पढ़ रहे थे। लेकिन सारी दुनिया ने देखा है कि वहां क्या हो रहा था, इससे साफ पता चलता है कि वे बिल्कुल झूठ बोल रहे हैं। रेखा शर्मा ने दुख जाहिर करते हुए कहा कि एक महिला जो कमलनाथ के मुख्यमंत्री कार्यकाल में उनके साथ काम कर चुकी है, उसके बारे में एक भरी सभा में मंच से ऐसी भाषा के उपयोग से यह पता चलता है कि वो कैसी सोच रखते हैं।

Dakhal News

Dakhal News 21 October 2020


bhopal, Kamal Nath, refuses to apologize , controversial statement, Shivraj

भोपाल। मध्यप्रदेश में पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ द्वारा मंत्री इमरती देवी को लेकर दिये बयान पर राजनीतिक घमासान जारी है। राहुल गांधी ने कमलनाथ के बयान को दुर्भाग्यपूर्ण बताया है, लेकिन कमलनाथ ने अपने विवादित बयान पर माफी मांगने से साफ इनकार कर दिया है। इसे लेकर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कमलनाथ पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा है कि कमलनाथ जी ने निर्लज्जता की सारी सीमाएं तोड़ दी हैं।    दरअसल, कांग्रेस के वरिष्ठ नेता राहुल गांधी ने कहा है कि कमलनाथ मेरी ही पार्टी से हैं, लेकिन इस तरह की भाषा मुझे बिल्कुल पसंद नहीं है। उनका बयान बहुत ही दुर्भाग्यजनक है, जबकि कमलनाथ ने अपने विवादित बयान को लेकर माफी मांगने से साफ इनकार कर दिया है। मंगलवार को मीडिया ने जब उनके बयान को लेकर राहुल गांधी की प्रतिक्रिया के बारे में कमलनाथ से सवाल किया गया तो उन्होंने कहा कि वो राहुल गांधी की राय है और उनको जो समझाया गया। उन्होंने इस मामले को लेकर स्थिति साफ कर दी है। अब और कुछ कहने की आवश्यकता नहीं है। उन्होंने बता दिया है कि उनका लक्ष्य किसी का अपमान नहीं था। यदि कोई अपमानित महसूस करता है, तो वे खेद कल ही व्यक्त कर चुके हैं। 'अब मैं माफी क्यों मांगूंगा।'    वहीं, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मुरैना जिले में मीडिया से बातचीत करते हुए कमलनाथ को माफी नहीं मांगने को लेकर आड़े हाथों लिया है। उन्होंने कहा है कि कांग्रेस के शीर्ष नेतृत्व ने यह माना है कि कमलनाथ जी ने गलती की है। कमलनाथ जी तो इतने दंभी और अहंकारी हैं कि निर्लज्जता की सारी सीमाएँ तोड़ते हुए यह कहते हुए घूम रहे हैं कि माफी नहीं मांगेंगे! मेरा सवाल कांग्रेस के शीर्ष नेतृत्व से है कि उन पर इस गलती के लिए क्या कार्रवाई होगी? कमलनाथ जी की निर्लज्जता और बहन इमरती देवी के आंसू पूरे देश ने देखे हैं। इसलिए वे किंतु-परंतु करने पर विवश हुए हैं। लेकिन यह माफी नहीं, उससे भी बड़ा पाप है। यह कमलनाथ जी का अहंकार है। वे अपने से श्रेष्ठ किसी को नहीं मानते हैं।    मुख्यमंत्री ने कहा कि कमल नाथ ने माफी नहीं मांगी है, उन्होंने कहा है कि किसी को बुरा लगा हो तो.., क्या वह अपनी सरकार में मंत्री रहीं इमरती देवी का नाम तक नहीं जानते। उन्हें कहना चाहिए था, इमरती देवी मुझसे गलती हुई मुझे माफ कर दो। उन्होंने कांग्रेस के वरिष्ठ नेता व संसद राहुल गांधी को लेकर भी कहा कि पता चला है कि राहुल गांधी ने इस पर खेद व्यक्त किया है परंतु हमें खेद नहीं चाहिए, हमें कार्रवाई चाहिए। जनता की ओर इशारा करते हुए उन्होंने पूछा कि क्या मां बेटियों के अपमान करने वाले व्यक्ति को कांग्रेस का प्रदेश अध्यक्ष रहना चाहिए। मैं पूछना चाहता हूं कि क्या कमलनाथ के परिवार पर किसी को कोई आइटम कहेगा तो क्या वह बर्दाश्त कर लेंगे। इमरती देवी तीन बार कांग्रेस से विधायक रहीं, सरकार की मंत्री थी उनकी जब भ्रष्टाचार की लंका को छोडक़र भाजपा में आ गई तो कमलनाथ उनसे अपशब्द कह रहे हैं इसका बदला जनता उनसे लेगी।

Dakhal News

Dakhal News 20 October 2020


bhopal, Home Minister ,Narottam Mishra, expressed regret ,Bisahulal

भोपाल। मध्य प्रदेश में विधानसभा उपचुनाव से पहले राजनेताओं बदजुबानी खूब चर्चा में है। आरोप प्रत्यारोप की राजनीति से ऊपर उठकर राजनेता अभद्र भाषा का खूब प्रयोग कर रहे हैं। अभी पूर्व सीएम कमलनाथ द्वारा डबरा से भाजपा प्रत्याशी और प्रदेश सरकार में मंत्री इमरती देवी को आयटम कहने का मामला थमा नहीं था कि मंत्री बिसाहुलाल ने भी विवादित बयान देते हुए कांग्रेस प्रत्याशी विश्वनाथ सिंह की पत्नी को रखैल कह दिया है। इससे प्रदेश की राजनीति का पारा सातवें आसमान पर पहुंच गया है। बिसाहूलाल के बिगड़े बोल पर खेद जताते हुए प्रदेश के गृृहमंत्री  नरोत्तम मिश्रा ने माफी मांगी है।   मंत्री मिश्रा ने मंगलवार को मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि मैंने भाजपा सरकार के मंत्री बिसाहुलाल सिंह जी का बयान सुना नहीं है। लेकिन यदि उन्होंने कोई आपत्तिजनक बात कही है तो संसदीय कार्य मंत्री के नाते मैं माफी मांगता हूँ। इसके साथ ही उन्होंने कमलनाथ पर निशाना साधते हुए कहा कि लेकिन क्या कमलनाथ अपने बयान के लिए माफी मांगेंगे, या दिग्विजय सिंह कमलनाथ के बयान के लिए माफी मांगेंगे? चुनाव में कांग्रेस के पास कोई मुद्दा नहीं है, इसलिए ऐसी बयानबाजी कर रहे हैं, ताकि कोई 15 महीनों के हिसाब ना मांग लें। मंत्री मिश्रा ने कहा कि कांग्रेस के नेता उपचुनाव में हल्के शब्दों का प्रयोग कर जनता के असल सवालों से बच रहे हैं। दरअसल उनके पास बताने लायक कोई उपलब्धि है ही नहीं, इसलिए वे भाजपा को कोसकर वोट बटोरना चाह रहे हैं।   ग्वालियर-चंबल की जनता को असम्मान बर्दाश्त नहींइस दौरान गृह मंत्री ने कहा कि मंत्री इमरती देवी के खिलाफ अपशब्द बोलने पर कमलनाथ ने खेद जताया है लेकिन माफी नहीं मांगी है। इससे साफ है कि अनुसूचित जाति की महिला के अपमान पर उन्हें दिल से अफसोस नहीं है। उन्होंने कहा कि ग्वालियर-चंबल क्षेत्र की जनता सब-कुछ बर्दाश्त कर सकती है लेकिन असम्मान नहीं। मंत्री इमरती देवी के अपमान के लिए जनता कांग्रेस को माफ नहीं करने वाली। 03 नवंबर को वह जरूर सबक सिखाएगी।

Dakhal News

Dakhal News 20 October 2020


bhopal, Chief Election Officer,send detailed report , Kamal Nath

नई दिल्ली/भोपाल। पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ द्वारा मंत्री व भाजपा प्रत्याशी इमरती देवी पर की गई अपमानजनक टिप्पणी के मामले में राज्य के मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी आज चुनाव आयोग को विस्तृत रिपोर्ट भेजेंगे। इसके लिए चुनाव आयोग ने सोमवार शाम को निर्देश दिये थे।    पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ की ‘आयटम’ वाली टिप्पणी को लेकर भोपाल से लेकर दिल्ली तक माहौल गर्माने लगा है। महिला आयोग द्वारा इस मामले में संज्ञान लिए जाने के बाद चुनाव आयोग भी हरकत में आया है। इस मामले को लेकर चुनाव आयोग ने प्रदेश के मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी से विस्तृत रिपोर्ट मांगी है। सोमवार को चुनाव आयोग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि मध्यप्रदेश के मुख्य निर्वाचन अधिकारी से प्राप्त रिपोर्ट के आधार पर, हमने एक विस्तृत रिपोर्ट मांगी है। यह मंगलवार को आयोग को मिल जाएगी, इसके आधार पर आयोग आगे निर्णय लेगा। वहीं राष्ट्रीय महिला आयोग ने भी यह मामला चुनाव आयोग को आवश्यक कार्रवाई के लिए भेजा है। इस मामले में चुनाव आयोग के अधिकारियों का कहना है कि महिला आयोग का संदेश मिलने से पहले ही हम मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी से विस्तृत रिपोर्ट मांग चुके हैं, उसी के आधार पर निर्णय लिया जाएगा। 

Dakhal News

Dakhal News 20 October 2020


bhopal,Digvijay Singh, calls BJP

भोपाल। मध्यप्रदेश में पूर्व मुख्यमंत्री एवं कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने मंत्री इमरती देवी के खिलाफ अभद्र टिप्पणी को लेकर राजनीतिक घमासान मच गया है। भाजपा ने कमलनाथ के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है और प्रदेशभर में वरिष्ठ नेताओं पर कार्यकर्ताओं द्वार दो घंटे का मौन उपवास किया जा रहा है। इस मामले को लेकर पूर्व सीएम एवं वरिष्ठ कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह कमलनाथ का समर्थन में उतर आए हैं और उन्होंने भाजपा नेताओं के मौन उपवास को नौटंकी बताते हुए कहा कि उनका मौन रखने का निर्णय उनकी समझ से परे है।   दिग्विजय सिंह ने सोमवार को ट्वीट के माध्यम से कहा है कि - ‘कमलनाथ जी ने किस संदर्भ में इमरती देवी जी को "आइटम" कहा, मैं नहीं जानता। लेकिन विरोध में भाजपा ने मौन रखने का निर्णय समझ से परे है। जब हाथरस में दलित युवती का बलात्कार हुआ तब भाजपा के नेताओं द्वारा एक शब्द इस घटना के खिलाफ में क्यों नहीं निकला। मामा मदारी का रोल ना करो, नाटक नौटंकी बंद करो।’

Dakhal News

Dakhal News 19 October 2020


bhopal, Kamal Nath, disputed comment, Mayawati , apologize

भोपाल। मंत्री इमरती देवी के संबंध में पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ की टिप्पणी का मामला गर्माता जा रहा है। इसके विरोध में जहां एक तरफ मुख्यमंत्री सहित भाजपा नेताओं ने सोमवार सुबह दो घंटे का मौन व्रत किया, वहीं बसपा सुप्रीमो मायावती ने भी इसकी आलोचना की है। वहीं, महिला आयोग ने भी इस पर संज्ञान लेते हुए नोटिस जारी किया है।कमलनाथ की विवादित टिप्पणी के विरोध में सोमवार को मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने राजधानी के मिंटो हॉल में भाजपा नेताओं, कार्यकर्ताओं के साथ मौन व्रत किया। प्रदेश अध्यक्ष वी.डी.शर्मा ने ग्वालियर में एवं वरिष्ठ नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया ने इंदौर में मौन व्रत किया। इधर, बसपा प्रमुख मायावती ने कहा है कि कांग्रेस को सार्वजनिक रूप से माफी मांगनी चाहिए। उन्होंने ट्वीट करते हुए कहा कि उपचुनाव लड़ रही दलित महिला के बारे में कांग्रेस के पूर्व सीएम द्वारा की गई घोर महिला-विरोधी अभद्र टिप्पणी अति-शर्मनाक व अति-निन्दनीय है। कांग्रेस आलाकमान को इस पर संज्ञान लेकर इस संबंध में सार्वजनिक तौर पर माफी मांगना चाहिए।महिला आयोग ने नोटिस भेजापूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ द्वारा की गई टिप्पणी पर राष्ट्रीय महिला आयोग ने भी संज्ञान लिया है। आयोग की अध्यक्ष रेखा शर्मा ने इस संबंध में पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ को नोटिस भेजा है। आयोग की अध्यक्ष रेखा शर्मा ने एक ट्वीट का रिप्लाई करते हुए लिखा है कि इस बारे में कमलनाथ को नोटिस भेजा गया है।

Dakhal News

Dakhal News 19 October 2020


bhopal, CM Shivraj, wrote to Sonia Gandhi, demanding release,Kamal Nath

भोपाल। मध्य प्रदेश के पूर्व सीएम और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ द्वारा गैर विधायक मंत्री इमरती देवी के लिए की गई अभद्र टिप्पणी मामले में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को पत्र लिखा है। सीएम शिवराज ने पत्र में सोनिया गांधी से कमलनाथ के खिलाफ कड़ी कार्यवाई करते हुए तत्काल उन्हें सभी पदों से मुक्त करने की मांग की है। साथ ही उन्होंने है कि इमरती देवी ने मीडिया के समक्ष रोते हुए अपनी व्यथा का इजहार किया है, जिसे देखकर किसी का भी दिल पसीज जाएगा। चुनाव आते जाते रहते है लेकिन किसी दलित महिला का इस तरह अपमान आपकी पूरी राजनीति को कलंकित करता है।   सीएम शिवराज ने अपने पत्र में कहा है कि अत्यंत व्यथित मन से आपको यह पत्र लिख रहा हूं मप्र में होने वाले विधानसभा उपचुनाव में प्रचार के दौरान आपकी पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष, नेता प्रतिपक्ष और पूर्व सीएम कमलनाथ ने प्रदेश की कैबिनेट मंत्री व अनुसूचित जाति की महिला नेत्री इमरती देवी पर अभद्र व अशोभनीय टिप्पणी ठहाके लगाते हुए की। वह टिप्पणी इतनी अभद्र है कि मैं उसका उल्लेख अपने पत्र में करना किसी महिला का पुन: अपमान करना जैसा मानता हूं। देश के सभी राष्ट्रीय न्यूज चैनलों में कमलनाथ द्वारा इमरती देवी पर अभद्र टिप्पणी बताकर प्रमुखता से इस खबर को दिखाया।   सीएम शिवराज ने आगे अपने पत्र में कहा कि मुझे लगा था कि स्वयं एक महिला होने के नाते आप इस खबर का संज्ञान लेगी तथा संवैधानिक पद पर आसीन एक दलित महिला के अपमान का प्रतिकार करते हुए अपनी पार्टी के नेता की टिप्पण की निंदा करते हुए उनके खिलाफ कड़ी कार्यवाई करेंगी लेकिन आपने अब तक ऐसा नहीं किया। कल आपके नेता कमलनाथ द्वारा दलित महिला नेत्री पर की गई अभद्र टिप्पणी के बाद आपने अपने महासचिवों के साथ बैठक की जिसमें महिलाओं के सम्मान पर चर्चा की गई लेकिन आपने पूर्व सीएम कमलनाथ द्वारा की गई टिप्पणी पर संज्ञान लेने की भी जरुरत नहीं की।   उन्होंने कहा कि कमलनाथ की धृष्टता देखिए की अपनी अशोभनीय व निंदनीय टिप्पणी को यह सही ठहरा रहे है जबकि उनकी टिप्पणी को देश की सारी मीडिया ने समवेत रुप से कमलनाथ द्वारा इमरती देवी के खिलाफ अभद्र टिप्पणी माना है। इतना ही नहीं कई वरिष्ठ पत्रकारों ने व्यक्तिगत रुप से कमलनाथ की टिप्पणी को अभद्र मानते हुए ट्वीट कर उसकी निंदा की है। आपके सुलभ संदर्भ के लिए न्यूज क्लिप्स, कतरनें व ट्वीट की प्रतियां पत्र के साथ संलग्र है।   सीएम शिवराज ने मांग करते हुए कहा कि आपसे आग्रह है कि एक दलित महिला मंत्री के प्रति अभद्र व अशोभनीय टिप्पणी करने तथा उसे जायज ठहराने का बेशर्मी भरा कृत्य करने वाले आपकी पार्टी के पूर्व सीएम कमलनाथ के खिलाफ तत्काल कार्यवाई करते हुए उन्हें पार्टी के सभी पदों से हटाते हुए उनकी कड़ी निंदा की कार्यवाई करें ताकि महिलाओं का अपमान करने वाले आपकी पार्टी के नेताओं को सबक मिले। साथ ही उन्होंने कहा कि यहां मैं यह और कहना चाहूंगा कि इस प्रकरण में यदि आपने मौन धारण किया तो यह मानने के लिए बाध्य होना पडेगा की कमलनाथ द्वारा दलित मंत्री इमरती देवी के प्रति की गई टिप्पणी पर आपकी पूर्ण सहमति है। 

Dakhal News

Dakhal News 19 October 2020


bhopal, CM Shivraj, wrote to Sonia Gandhi, demanding release,Kamal Nath

भोपाल। मध्य प्रदेश के पूर्व सीएम और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ द्वारा गैर विधायक मंत्री इमरती देवी के लिए की गई अभद्र टिप्पणी मामले में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को पत्र लिखा है। सीएम शिवराज ने पत्र में सोनिया गांधी से कमलनाथ के खिलाफ कड़ी कार्यवाई करते हुए तत्काल उन्हें सभी पदों से मुक्त करने की मांग की है। साथ ही उन्होंने है कि इमरती देवी ने मीडिया के समक्ष रोते हुए अपनी व्यथा का इजहार किया है, जिसे देखकर किसी का भी दिल पसीज जाएगा। चुनाव आते जाते रहते है लेकिन किसी दलित महिला का इस तरह अपमान आपकी पूरी राजनीति को कलंकित करता है।   सीएम शिवराज ने अपने पत्र में कहा है कि अत्यंत व्यथित मन से आपको यह पत्र लिख रहा हूं मप्र में होने वाले विधानसभा उपचुनाव में प्रचार के दौरान आपकी पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष, नेता प्रतिपक्ष और पूर्व सीएम कमलनाथ ने प्रदेश की कैबिनेट मंत्री व अनुसूचित जाति की महिला नेत्री इमरती देवी पर अभद्र व अशोभनीय टिप्पणी ठहाके लगाते हुए की। वह टिप्पणी इतनी अभद्र है कि मैं उसका उल्लेख अपने पत्र में करना किसी महिला का पुन: अपमान करना जैसा मानता हूं। देश के सभी राष्ट्रीय न्यूज चैनलों में कमलनाथ द्वारा इमरती देवी पर अभद्र टिप्पणी बताकर प्रमुखता से इस खबर को दिखाया।   सीएम शिवराज ने आगे अपने पत्र में कहा कि मुझे लगा था कि स्वयं एक महिला होने के नाते आप इस खबर का संज्ञान लेगी तथा संवैधानिक पद पर आसीन एक दलित महिला के अपमान का प्रतिकार करते हुए अपनी पार्टी के नेता की टिप्पण की निंदा करते हुए उनके खिलाफ कड़ी कार्यवाई करेंगी लेकिन आपने अब तक ऐसा नहीं किया। कल आपके नेता कमलनाथ द्वारा दलित महिला नेत्री पर की गई अभद्र टिप्पणी के बाद आपने अपने महासचिवों के साथ बैठक की जिसमें महिलाओं के सम्मान पर चर्चा की गई लेकिन आपने पूर्व सीएम कमलनाथ द्वारा की गई टिप्पणी पर संज्ञान लेने की भी जरुरत नहीं की।   उन्होंने कहा कि कमलनाथ की धृष्टता देखिए की अपनी अशोभनीय व निंदनीय टिप्पणी को यह सही ठहरा रहे है जबकि उनकी टिप्पणी को देश की सारी मीडिया ने समवेत रुप से कमलनाथ द्वारा इमरती देवी के खिलाफ अभद्र टिप्पणी माना है। इतना ही नहीं कई वरिष्ठ पत्रकारों ने व्यक्तिगत रुप से कमलनाथ की टिप्पणी को अभद्र मानते हुए ट्वीट कर उसकी निंदा की है। आपके सुलभ संदर्भ के लिए न्यूज क्लिप्स, कतरनें व ट्वीट की प्रतियां पत्र के साथ संलग्र है।   सीएम शिवराज ने मांग करते हुए कहा कि आपसे आग्रह है कि एक दलित महिला मंत्री के प्रति अभद्र व अशोभनीय टिप्पणी करने तथा उसे जायज ठहराने का बेशर्मी भरा कृत्य करने वाले आपकी पार्टी के पूर्व सीएम कमलनाथ के खिलाफ तत्काल कार्यवाई करते हुए उन्हें पार्टी के सभी पदों से हटाते हुए उनकी कड़ी निंदा की कार्यवाई करें ताकि महिलाओं का अपमान करने वाले आपकी पार्टी के नेताओं को सबक मिले। साथ ही उन्होंने कहा कि यहां मैं यह और कहना चाहूंगा कि इस प्रकरण में यदि आपने मौन धारण किया तो यह मानने के लिए बाध्य होना पडेगा की कमलनाथ द्वारा दलित मंत्री इमरती देवी के प्रति की गई टिप्पणी पर आपकी पूर्ण सहमति है। 

Dakhal News

Dakhal News 19 October 2020


Khandwa, 70-year-old, veteran dies , Scindia

खंडवा। जिले के मांधाता विधानसभा उपचुनाव के लिए क्षेत्र में रविवार को आयोजित भाजपा के स्टार प्रचारक और राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया की चुनावी सभा में शामिल हुए एक 70 वर्षीय बुजुर्ग की मौत हो गई। यह हादसा सिंधिया के मंच पर पहुंचने से पहले हुआ। कार्यक्रम में सिंधिया ने मंच से एक मिनट का मौन रखकर मृतक को श्रद्धांजलि दी।   दरअसल, मांधाता सीट से भाजपा उम्मीदवार नारायण पटेल के समर्थन में रविवार को मूंदी में सिंधिया की आमसभा थी। समीपस्थ ग्राम ग्राम चांदपुर निवासी 70 वर्षीय बुजुर्ग जीवन सिंह इस आमसभा में शामिल  होने के लिए पहुंचा था। पंडाल में ही अचानक जीवन सिंह की तबियत खराब हो गई। मौके पर मौजूद लोग उन्हें लेकर अस्पताल पहुंचे, जहां चिकित्सकों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। अस्पताल की सूचना पर पुलिस ने मौके पर पहुंची और शव को पोस्टमार्टम के बाद परिजनों को सौंपा और मामले की जांच शुरू की।   इधर, सिंधिया ने मंच से मृतक बुजुर्ग को श्रद्धांजलि अर्पित की और सभा का संबोधित किया। उन्होंने कहा कि मध्य प्रदेश में अन्नदाता और गरीबों के हितों की चिंता करने के लिए आज मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और ज्योतिरादित्य सिंधिया की शिव-ज्योति जोड़ी खड़ी है। उन्होंने कमलनाथ और दिग्विजय सिंह पर गंभीर आरोप लगाए। उन्होंने कहा कि कांग्रेस की सरकार ने 15 माह में मध्य प्रदेश को भ्रष्टाचार का अड्डा बना दिया। मध्यप्रदेश देश का दिल है और इसकी धडक़न यहां का मतदाता है। इसलिए प्रदेश के किसान, गरीब, महिला, युवा के साथ वादाखिलाफी करने वाली कमलनाथ की सरकार को धूल चटाने का काम मैंने किया है। मैं यह वचन देता हूं कि अन्नदाता और गरीब के साथ अन्याय व वादाखिलाफी कभी सहन नहीं की जाएगी।

Dakhal News

Dakhal News 18 October 2020


shivpuri,election will decide, whether Chief Minister , Shivraj

शिवपुरी। शिवपुरी जिले के पोहरी विधानसभा क्षेत्र अंतर्गत झिरी गांव में रविवार को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान भाजपा का प्रचार करने के लिए आए। इस दौरान आमसभा को संबोधित करते हुए सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि इस चुनाव से फैसला होगा कि प्रदेश में शिवराज सिंह चौहान रहेगा कि नहीं। इस चुनाव का परिणाम यह बताएगा कि कौन प्रदेश चलाएगा। शिवराज तभी मुख्यमंत्री रहेगा जब भाजपा प्रत्याशी जीतेगा। यह नहीं चलेगा कि मामा अच्छा यह ठीक नहीं। अगर यह सोचा तो सब गड़बड हो जाएगी। कोई चूक नहीं होना चाहिए सबको भाजपा को जिताना है। इस चुनाव से बच्चों के भविष्य का फैसला होना है यह माता बहनों के सम्मान का चुनाव है। इसलिए आपको भाजपा को जिताना है।    सीएम ने कहा कि कांग्रेस की सरकार के दौरान कमलनाथ ने गरीब जनता से जुड़ी कई योजनाएं बंद कर दीं।    जब भाजपा प्रत्याशी जीतेगा तब हम रहेंगे-    सीएम शिवराज ने अपनी आमसभा में संबोधन के दौरान इस बात पर फोकस रखा कि जब भाजपा प्रत्याशी सुरेश राठखेड़ा जीतेगा तो हम रहेंगे। उन्होंने भाजपा कार्यकर्ताओं से एकजुटता की अपील की। इसके अलावा लोगों से कहा कि वह कमल पर बटन दबाएं साथ ही दूसरों को भी इसके लिए प्रेरित करें। इसके अलावा सीएम ने सभा में कहा कि कमलनाथ अच्छा या मामा अच्छा। उन्होंने कहा कि हमारी सरकार ने बेटा-बेटी व महिलाओं के लिए तमाम योजनाएं चालू कीं। कमलनाथ ने अपनी सरकार के दौरान कर्जा माफी के नाम पर किसानों को ढगा। प्रदेश के कई किसान दो लाख के चक्कर में डिफाल्टर हो गए।

Dakhal News

Dakhal News 18 October 2020


bhopal, CM strict, case of deaths ,Ujjain, Superintendent Police removed

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने उज्जैन में 3 दिन पूर्व जहरीली शराब के सेवन से हुई मौतों के मामले को गंभीरता से लेते हुए पुलिस अधीक्षक उज्जैन को हटाने और संबंधित क्षेत्र के नगर पुलिस अधीक्षक (सीएसपी) को निलंबित करने के निर्देश दिए हैं। मुख्यमंत्री ने रविवार को अ अपने निवास पर हुई उच्च अधिकारियों की बैठक में इस संबंध में निर्देश दिए।    उल्लेखनीय है कि उज्जैन के खारा कुआं थाना के टीआई और अन्य अमले को पूर्व में ही घटना में लापरवाही का दोषी मानते हुए निलंबित किया जा चुका है। मुख्यमंत्री ने इस तरह की अवैध गतिविधियों में लिप्त माफिया के विरुद्ध सख्त कार्रवाई के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि अभियान के स्तर कर यह कार्रवाई की जाए।   मुख्यमंत्री शिवराज ने उज्जैन में हुई घटना की जांच के लिए गए अपर मुख्य सचिव गृह डॉ राजेश राजौरा से की गई कार्रवाई का विवरण प्राप्त किया। इस प्रकरण में अब तक हुई गिरफ्तारियां और पुलिस एवं आबकारी अमले के दोषियों के विरुद्ध की गई कार्रवाई की जानकारी मुख्यमंत्री को दी गई। मुख्यमंत्री ने कहा इस तरह अवैध रूप से नशीली वस्तुओं का विक्रय और व्यापार हर स्थिति में रोका जाए।    उन्होंने निर्देश दिए कि ऐसे मामलों में दोषियों को सख्त से सख्त सजा दिलवाई जाए। सडक़ों पर बैठने वाले भिखारी या अत्यंत गरीब तबके के लोग इस तरह की वस्तुओं के सेवन के लिए प्रेरित ना हों, उन्हें इन वस्तुओं की आपूर्ति करने वालों के विरुद्ध प्रतिबंधात्मक कार्रवाई की जाए. यह कार्यवाही निरंतर अभियान के रूप में चले, ताकि भविष्य में इस तरह की घटनाएं ना हो। उज्जैन की घटना से संबंधित गृह विभाग द्वारा संपूर्ण  जांच प्रतिवेदन तैयार किया जा रहा है।   नाबालिग की हत्या के संबंध में सख्त एक्शन लें, किसी को न बक्शा जाए मुख्यमंत्री ने जबलपुर में एक नाबालिग की हत्या के मामले में भी कड़ी कार्रवाई के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि ऐसे अपराधियों को समाप्त करने के लिए प्रभावी कार्रवाई हो। किसी भी दोषी को न बख्शा जाए। आईजी इंटेलिजेंस आदर्श कटियार ने बताया कि इस मामले में आरोपी को गिरफ्तार किया गया है। प्रकरण में विस्तृत जांच की जा रही है।   इस अवसर पर मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस, ओएसडी मुख्यमंत्री कार्यालय मकरंद देउसकर, प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री मनीष रस्तोगी, आयुक्त जनसंपर्क डॉ सुदाम खाडे और अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

Dakhal News

Dakhal News 18 October 2020


bhopal, Former CM ,Kamal Nath,Shivraj came ,Ujjain incident, back Mafia Raj

भोपाल। मध्यप्रदेश में विधानसभा की रिक्त 28 सीटों पर होने जा रहे उपचुनाव के बीच उज्जैन में जहरीली शराब से 14 लोगों की मौत ने मुख्य विपक्षी कांग्रेस को एक बड़ा मुद्दा मिल गया है। इस घटना को लेकर कांग्रेस लगातार हमलावर है। इसी क्रम में अब पूर्व मुख्यमंत्री और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा है कि मध्यप्रदेश में शिवराज आये, माफिया राज वापस लाए।   पूर्व सीएम कमलनाथ ने शुक्रवार को सिलसिलेवार ट्वीट के माध्यम से मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान पर निशाना साधा है। उन्होंने ट्वीट किया है कि - ‘प्रदेश में शिवराज सरकार आते ही शराब माफिया, अपहरण माफिया, अपराध माफिया, भूमाफिया, ड्रग माफिया, सारे तरह के माफिया फिर सक्रिय हो गए हैं।’ उन्होंने अगले ट्वीट में लिखा है कि - ‘उज्जैन में शराब माफिया द्वारा 14 लोगों की जान लेने के बाद अब जबलपुर में एक 12 वर्ष के बालक का अपहरण हो गया। पूरी सरकार चुनावों में लगी, अभियानों, कैम्पेन में लगी हुई है। प्रदेश में सरकार नाम की चीज नहीं है। कानून व्यवस्था की स्थिति बदतर, बहन- बेटियां भी असुरक्षित, जनता भगवान भरोसे।’   उन्होंने कहा कि -‘जनता को भगवान व ख़ुद को पुजारी बताने वालों के असली भगवान माफिया- मिलावटखोर बन चुके हैं। बाबा महाकाल की नगरी उज्जैन में जहरीली शराब से 14 लोगों की मौत शिवराज सरकार में माफियाराज की गहरी जड़ों का संकेत है। शिवराज के लौटते ही मध्यप्रदेश में फिर पनपने लगे शराब माफिया ने जहरीली शराब से उज्जैन के 14 गरीबों की जान ले ली। शिवराज जी, आपकी सत्ता हवस ने मध्यप्रदेश को मृत्यु प्रदेश बना दिया।’ उन्होंने कहा कि कांग्रेस सरकार की लड़ाई मध्यप्रदेश को इसी भयावहता से मुक्त कराने की है।

Dakhal News

Dakhal News 16 October 2020


bhopal, BJP handed over , election to government ,officials-employees ,Digvijay Singh

भोपाल। मध्यप्रदेश में 28 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव से पहले राजनेताओं के बीच जुबानी जंग तेज हो गई है। भाजपा और कांग्रेस के नेता एक दूसरे पर जमकर आरोप-प्रत्यारोप लगा रहे हैं। कांग्रेस चुनावी मैदान में टिकाऊ और बिकाऊ का मुद्दा लेकर डटी हुई है। कांग्रेस नेता जहां भी जनसभाओं में जा रहे हैं वहां टिकाऊ और बिकाऊ के मुद्दे को प्रमुखता से उठा रहे हैं। इसके साथ ही कांग्रेस चुनावी क्षेत्रों में प्रशासन को भी निशाने पर लिए हुए है और भाजपा के पक्ष में काम करने का आरोप लगा रही है। अब मप्र के पूर्व सीएम और कांग्रेस राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह का बड़ा बयान सामने आया है।   दिग्विजय सिंह ने भाजपा और उसके उम्मीदवारों पर निशाना साधते हुए कहा कि 28 में से 27 ऐसे उम्मीदवार बन गए हैं जो कांग्रेस से जाकर भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो गए। उन्होंने कहा कि लगभग पौने दो साल पहले इन्ही उम्मीदवारों ने भाजपा के खिलाफ बैनर, पोस्टर लगाकर विरोध किया था। बेईमान तथा भ्रष्ट भी कहा था लेकिन अब वही भाजपा के उम्मीदवार बन गए। ऐसी परिस्थिति में इन उम्मीदवारों और शिवराज सिंह को यह डर लगा हुआ है कि शायद भाजपा के कार्यकर्ता इन दलबदलू उम्मीदवारों के पक्ष में विचार न कर ले। इसलिए भाजपा ने चुनाव का जिम्मा सरकारी अधिकारी कर्मचारी और पुलिस पर सौंप दिया है।   उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी के 26 विधायकों ने तो लोकतंत्र बेच दिया लेकिन हमें यह विश्वास है कि मध्यप्रदेश का प्रशासकीय तंत्र माननीय मुख्य सचिव से लेकर चपरासी तक तथा डीजीपी से लेकर सिपाही तक अपने आपको नहीं बेचेगा। अन्यथा हम लोग ऐसे सारे अधिकारियों और कर्मचारियों की सूची बना रहे हैं। वहीं उपचुनाव में अपनी भूमिका को लेकर दिग्विजय सिंह ने कहा कि उपचुनाव में दिग्विजय सिंह की भूमिका है कि भाजपा को हराओ ओर कांग्रेस को जिताओ।   इतिहास में पहली बार हो रहे ऐसे उप चुनाव इस दौरान दिग्विजय सिंह ने कहा कि लोकतंत्र के इतिहास में पहली बार ऐसे उप चुनाव हो रहे हैं। इन उपचुनाव से मौजूदा सरकार रहेगी की नहीं रहेगी यह तय होगा। उन्होंने कहा कि यह बात स्वयं शिवराज सिंह चौहान कह चुके हैं कि मैं अभी टेंपरेरी मुख्यमंत्री हूं, परमानेंट करने के लिए मुझे चुनाव जिताईए। ऐसे महत्वपूर्ण चुनाव में सरकार रहेगी या जाएगी यह चुनाव के नतीजों पर निर्भर करेगा।   भाजपा की शिकायत चुनाव आयोग से कीभाजपा पर आचार संहिता का उल्लंघन करने के आरोप लगाते हुए दिग्गी ने कहा कि सुमावली क्षेत्र में कांग्रेस के कार्यकर्ता के घर में घुसकर तोडफ़ोड़ की गई, जिसका ऑडियो क्लिप भी सामने आया है। जिसमें उम्मीदवार मां बहन की गालियां दे रहा है। इसी तरह से कुछ और लोग भाजपा के पक्ष में वोट डालने को कह रहे है। यह सारी शिकायतें हमने चुनाव आयोग से की है, हमें उम्मीद है चुनाव आयोग इस पर कार्यवाही करेगा। हम ने चुनाव आयोग से अनुरोध भी किया है कि कार्यवाही से हमें भी सूचित किया जाए। इसके अलावा उन्होंने बताया कि सांवेर में आकाश विजयवर्गीय पैसे बांट रहे हैं, करेरा में जसवंत जाटव कह रहे हैं वोट नहीं दिया तो गर्दन मरोड़ दूंगा। इस तरह की शिकायतें हमारे पास आई है। इसलिए हमने चुनाव आयोग में शिकायत की है।  

Dakhal News

Dakhal News 16 October 2020


bhopal, Home department, released new guidelines , prevention , corona infection

भोपाल। कोरोना वायरस संक्रमण की रोकथाम एवं बचाव के लिये नवीन दिशा-निर्देश जारी किये गये हैं। सामाजिक, शैक्षणिक, खेल, मनोरंजन, सांस्कृतिक, राजनैतिक, रामलीला एवं रावन-दहन आदि कार्यक्रमों में जन-समूह तथा धार्मिक स्थलों में पूजा-अर्चना के संबंध में जारी निर्देशों का पालन अनिवार्य रूप से कराने के निर्देश समस्त कलेक्टरों को दिये गये हैं।   अपर मुख्य सचिव, गृह डॉ. राजेश राजौरा ने गुरुवार को बताया कि खुले मैदान में सामाजिक, शैक्षणिक, खेल, मनोरंजन, सांस्कृतिक, राजनैतिक, रामलीला एवं रावन-दहन इत्यादि कार्यक्रम मैदान के आकार को दृष्टिगत रखते हुए फेस मास्क, सोशल डिस्टेंसिंग, सेनिटाइजिंग एवं थर्मल स्केनिंग की व्यवस्था के पालन करने की शर्त पर 100 से अधिक संख्या के जन-समूह के कार्यक्रमों के लिये जिला प्रशासन से अनुमति प्राप्त करना होगी। उक्त कार्यक्रम कंटेनमेंट जोन में आयोजित नहीं हो सकेंगे। डॉ. राजौरा ने बताया कि आयोजन के लिये प्रशासन को कार्यक्रम की तिथि, समय, स्थान एवं संभावित संख्या का उल्लेख करते हुए लिखित में आवेदन करना होगा। जिला प्रशासन आवेदन पर विचार कर अनुमति प्रदान करेगा, जिसमें संख्या एवं शर्तों के पालन की जिम्मेदारी आयोजकों की रहेगी। आयोजकों को कार्यक्रम की वीडियोग्राफी 48 घंटे में जिला प्रशासन को उपलब्ध कराना होगा। डॉ. राजौरा ने बताया कि प्रदेश में आगामी आदेश तक धार्मिक स्थलों पर मेलों के आयोजन प्रतिबंधित रहेंगे।   डॉ. राजौरा ने बताया है कि ऐसे धार्मिक स्थल, जहाँ श्रद्धालु बंद कक्ष अथवा हॉल में एकत्रित होते हैं, वहाँ जिला कलेक्टर द्वारा कुल उपलब्ध स्थान के आधार पर अधिकतम सीमा नियत की जा सकेगी। उपलब्ध स्थान पर श्रद्धालुओं के मध्य पूजा-अर्चना के दौरान भी दो गज की दूरी बनाये रखना जरूरी होगा। धार्मिक स्थल प्रबंधन को सुनिश्चित करना होगा कि कोविड-19 रोकथाम के लिये फेस मास्क की बाध्यता एवं सोशल डिस्टेंसिंग का पालन धर्मावलंबियों द्वारा अनिवार्य रूप से किया जाये। उन्होंने स्पष्ट किया है कि प्रशासन द्वारा प्रदत्त अनुमति में उल्लेखित शर्तों के उल्लंघन पर भारतीय दण्ड विधान की धारा-188 के अंतर्गत वैधानिक कार्यवाही की जायेगी।   डॉ. राजौरा ने बताया है कि 18 सितम्बर, 2020 को समस्त दुकानों को रात्रि 8 बजे तक ही खोलने संबंधी आदेश को निरस्त कर दिया गया है। अब प्रदेश में दुकानें, बाजार, मॉल अपने निर्धारित समय तक खुले रह सकेंगे। उन्होंने बताया है कि उक्त आदेश 16 अक्टूबर, 2020 से सम्पूर्ण प्रदेश में आगामी आदेश तक लागू होंगे।

Dakhal News

Dakhal News 15 October 2020


Ujjain, Suspected death,nine people,Chief Minister directed ,SIT investigation

भोपाल/उज्जैन। भगवान महाकाल की नगरी उज्जैन में बुधवार सुबह से गुरुवार सुबह तक नौ लोगों की संदिग्ध हालत में मौत हो गई। बताया जा रहा है कि ये सभी लोग झिंझर नामक कच्ची शराब पीने के आदि थे और उनकी मौत का कारण जहरीली शराब को ही माना जा रहा है। यहां बुधवार को सात लोगों के शव मिलने से हडकम्प मच गया था। इसके बाद गुरुवार सुबह दो लोगों के शव बरामद हुए हैं। फिलहाल, पुलिस मामले की जांच में जुटी है। इधर, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मामले को संज्ञान में लेकर गुरुवार सुबह उच्च स्तरीय बैठक लेकर अधिकारियों को घटना की जांच के विशेष जांच दल (एसआईटी) से कराने के निर्देश दिये हैं। साथ ही गृह विभाग को निर्देशित किया गया है कि दोषी अधिकारियों को तत्काल निलंबित किया जाए।   बता दें कि उज्जैन में बुधवार सुबह 7 बजे छत्री चौक सराय के फुटपाथ पर दो मजदूरों के शव मिले थे। मृतकों की पहचान नागदा निवासी विजय उर्फ कृष्णा (41) और पिपलौदा बागला निवासी शंकरलाल (40) के रूप में हुई। इसके बाद दो अन्य मजदूर मजदूर दानी गेट निवासी बबलू (40) और छत्री चौक सराय निवासी बद्रीलाल (65) ने इलाज के दौरान पुलिस को बताया कि उन्होंने झिंझर (कच्ची शराब) पी थी। इसके बाद से उनके पेट में काफी दर्द होने लगा। शाम को बबलू और बद्रीलाल की भी मौत हो गई। शाम को सात बजे एक अन्य व्यक्ति दिनेश जोशी (45) का शव माधव गोशाला के पास मिला। महाकाल थाना क्षेत्र के बेगमबाग निवासी पीर शाह (45) को सुबह अस्पताल में भर्ती कराया गया था, उसने भी शाम को दम तोड़ दिया। इसी तरह छत्री चौक की पार्किंग से 85 साल के बुजुर्ग की लाश मिली थी। बताया गया है कि सभी ने झिंझर शराब पी थी।   इसके बाद गुरुवार सुबह नरसिंह घाट और ढाबा रोड क्षेत्र से भी दो मजदूरों के शव मिले हैं। ये मजदूर भी शराब के आदी थे। उनकी शिनाख्त रतन मालवीय निवासी झारड़ा और हरदा निवासी राकेश के रूप में हुई है। पुलिस का कहना है कि मजदूर कहारवाड़ी क्षेत्र से सस्ती झिंझर शराब खरीदकर पीते थे। आशंका है कि ज्यादा शराब पीने से इनकी मौत हुई है, लेकिन पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही स्थिति स्पष्ट हो सकेगी। उज्जैन में जहरीली शराब पीने से बुधवार सुबह से गुरुवार सुबह तक 24 घंटों के दौरान कुल नौ लोगों की मौत हो चुकी है और पुलिस मामले की जांच में जुटी है। इस घटना से प्रदेशभर में हडकम्प मच गया है।   मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने गुरुवार सुबह जानकारी लगने के बात तत्काल उच्च स्तरीय बैठक बुलाई और मामले की एसआईटी से जांच कराने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा है कि दोषियों को किसी कीमत पर छोड़ा नहीं जाएगा, साथ ही उन्होंने गृह विभाग के सचिव को मामले की जांच कराकर दोषी अधिकारियों को तत्काल निलंबित करने के निर्देश दिये। मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को निर्देशित किया कि अन्य कई स्थानों पर ऐसी वस्तुएं बेची जा रही हैं, इसका पता लगाएं और ऐसे लोगों का नेटवर्क तोड़ें। नशीले पदार्थ बेचने वालों को कड़ी सजा मिले। उन्होंने गृह विभाग के अपर मुख्य सचिव को मामले की जांच रिपोर्ट सौंपने के निर्देश दिए हैं।

Dakhal News

Dakhal News 15 October 2020


Ujjain, Suspected death,nine people,Chief Minister directed ,SIT investigation

भोपाल/उज्जैन। भगवान महाकाल की नगरी उज्जैन में बुधवार सुबह से गुरुवार सुबह तक नौ लोगों की संदिग्ध हालत में मौत हो गई। बताया जा रहा है कि ये सभी लोग झिंझर नामक कच्ची शराब पीने के आदि थे और उनकी मौत का कारण जहरीली शराब को ही माना जा रहा है। यहां बुधवार को सात लोगों के शव मिलने से हडकम्प मच गया था। इसके बाद गुरुवार सुबह दो लोगों के शव बरामद हुए हैं। फिलहाल, पुलिस मामले की जांच में जुटी है। इधर, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मामले को संज्ञान में लेकर गुरुवार सुबह उच्च स्तरीय बैठक लेकर अधिकारियों को घटना की जांच के विशेष जांच दल (एसआईटी) से कराने के निर्देश दिये हैं। साथ ही गृह विभाग को निर्देशित किया गया है कि दोषी अधिकारियों को तत्काल निलंबित किया जाए।   बता दें कि उज्जैन में बुधवार सुबह 7 बजे छत्री चौक सराय के फुटपाथ पर दो मजदूरों के शव मिले थे। मृतकों की पहचान नागदा निवासी विजय उर्फ कृष्णा (41) और पिपलौदा बागला निवासी शंकरलाल (40) के रूप में हुई। इसके बाद दो अन्य मजदूर मजदूर दानी गेट निवासी बबलू (40) और छत्री चौक सराय निवासी बद्रीलाल (65) ने इलाज के दौरान पुलिस को बताया कि उन्होंने झिंझर (कच्ची शराब) पी थी। इसके बाद से उनके पेट में काफी दर्द होने लगा। शाम को बबलू और बद्रीलाल की भी मौत हो गई। शाम को सात बजे एक अन्य व्यक्ति दिनेश जोशी (45) का शव माधव गोशाला के पास मिला। महाकाल थाना क्षेत्र के बेगमबाग निवासी पीर शाह (45) को सुबह अस्पताल में भर्ती कराया गया था, उसने भी शाम को दम तोड़ दिया। इसी तरह छत्री चौक की पार्किंग से 85 साल के बुजुर्ग की लाश मिली थी। बताया गया है कि सभी ने झिंझर शराब पी थी।   इसके बाद गुरुवार सुबह नरसिंह घाट और ढाबा रोड क्षेत्र से भी दो मजदूरों के शव मिले हैं। ये मजदूर भी शराब के आदी थे। उनकी शिनाख्त रतन मालवीय निवासी झारड़ा और हरदा निवासी राकेश के रूप में हुई है। पुलिस का कहना है कि मजदूर कहारवाड़ी क्षेत्र से सस्ती झिंझर शराब खरीदकर पीते थे। आशंका है कि ज्यादा शराब पीने से इनकी मौत हुई है, लेकिन पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही स्थिति स्पष्ट हो सकेगी। उज्जैन में जहरीली शराब पीने से बुधवार सुबह से गुरुवार सुबह तक 24 घंटों के दौरान कुल नौ लोगों की मौत हो चुकी है और पुलिस मामले की जांच में जुटी है। इस घटना से प्रदेशभर में हडकम्प मच गया है।   मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने गुरुवार सुबह जानकारी लगने के बात तत्काल उच्च स्तरीय बैठक बुलाई और मामले की एसआईटी से जांच कराने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा है कि दोषियों को किसी कीमत पर छोड़ा नहीं जाएगा, साथ ही उन्होंने गृह विभाग के सचिव को मामले की जांच कराकर दोषी अधिकारियों को तत्काल निलंबित करने के निर्देश दिये। मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को निर्देशित किया कि अन्य कई स्थानों पर ऐसी वस्तुएं बेची जा रही हैं, इसका पता लगाएं और ऐसे लोगों का नेटवर्क तोड़ें। नशीले पदार्थ बेचने वालों को कड़ी सजा मिले। उन्होंने गृह विभाग के अपर मुख्य सचिव को मामले की जांच रिपोर्ट सौंपने के निर्देश दिए हैं।

Dakhal News

Dakhal News 15 October 2020


bhopal, Investment promotion ,assistance will be given ,oxygen plant

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की अध्यक्षता में बुधवार को निवेश संवर्धन के लिये आयोजित मंत्रिपरिषद समिति की बैठक में प्रदेश के होशंगाबाद जिले में मोहासा बावई इंडस्ट्रीयल एवं मेडिकल गैस निर्माण के लिए संयंत्र स्थापना पर निवेश प्रोत्साहन सहायता देने का निर्णय लिया गया है। समिति ने आइनॉक्स लिमिटेड को निवेश प्रोत्साहन योजना के अंतर्गत 40 प्रतिशत की दर से 7 वर्ष की अवधि में सहायता देने का निर्णय लिया।    उल्लेखनीय है कि प्रदेश में हाल ही में कोविड-19 के दौरान नागरिकों के उपचार के लिए राज्य सरकार ने पर्याप्त ऑक्सीजन व्यवस्था करने के साथ ही भविष्य में ऑक्सीजन के लिए अन्य राज्यों पर निर्भरता समाप्त करने के उद्देश्य से राज्य में ही संयंत्र स्थापना के लिए गंभीरता से विचार किया। मुख्यमंत्री चौहान ने इस संबंध में संबंधित विभागों को तेजी से कार्यवाही संपादित करने के निर्देश दिए थे।   औद्योगिक क्षेत्र मोहासा बावई में आइनॉक्स एयर प्रोडक्ट प्रा.लि. जो देश में औद्योगिक गैसों के निर्माण की अग्रणी कंपनी है, को राज्य शासन ने एम.पी.आईडीसी के माध्यम से विद्युत वितरण की अनुज्ञप्ति भी स्वीकृत की है। परियोजना को आवश्यक सुविधाएं उपलब्ध होने से इकाई स्थापना में सहयोग मिलेगा। कोविड-19 के दृष्टिगत प्रदेश में ऑक्सीजन की मांग के लिए 125 करोड़ के पूंजी निवेश से रोजाना 210 टन क्षमता के एयर सेप्रेशन प्लांट की स्थापना की प्रक्रिया चल रही है। परियोजना की स्थापना राज्य के आर्थिक विकास और ऑक्सीजन पूर्ति में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगी।   इस बैठक में औद्योगिक नीति एवं निवेश प्रोत्साहन मंत्री राजवर्धन सिंह दत्तीगांव, सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री ओमप्रकाश सखलेचा और चिकित्सा शिक्षा, भोपाल गैस त्रासदी, राहत एवं पुनर्वास मंत्री विश्वास सारंग वीडियो कान्फ्रेसिंग द्वारा शामिल हुए।

Dakhal News

Dakhal News 14 October 2020


bhopal, Narottam lashed out , Digvijay, shrugged off being happy ,Mehbooba

भोपाल। मप्र के पूर्व सीएम और कांग्रेस राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह ने कश्मीर की पूर्व सीएम मेहबूबा मुफ्ती की रिहाई पर खुशी जाहिर करने के साथ ही 370 हटाने के बाद से अब तक के हालातों और आतंकवार पर भी सवाल उठाया है। दिग्विजय के सवालों के बाद अब वे भाजपा के निशाने पर आ गए है। प्रदेश के गृह एवं जेल मंत्री डॉ नरोत्तम मिश्रा ने दिग्विजय सिंह पर तंज कसते हुए हमला बोला है।   गृहमंत्री ने कहा कि आज वो मेहबूबा की रिहाई पर खुशी जताई है। इन्होंने 370 हटने, 35 ए पर या फिर लद्दाख पर खुशी नहीं जताई, लेकिन मेहबूबा की रिहाई पर खुशी जता रहे हैं। इससे इनकी सोच समझ में आती है कि दिग्विजय सिंह की कैसी मानसिकता है।    मंत्री मिश्रा ने कहा है कि संघ और संविधान की जो सोच है वह सिर्फ दिग्विजय सिंह जैसे लोगों की सोच है। जब भी चुनाव आते है हमारे एससी के वोटों को प्रभावित करने के लिए पहले चुनाव में कहा भाजपा वाले संविधान बदल देंगे, दूसरा चुनाव आया तो कहा भाजपा वाले आरक्षण खत्म कर देंगे, दो साल पहले चुनाव था तो कहा था कि हरिजन एक्ट खत्म कर देंगे लेकिन चुनाव खत्म होते ही यह सारी बाते भी खत्म हो जाती है। अब सिर्फ चुनाव है तो फिर उन्होंने ट्वीट कर दिया यह दिग्विजय सिंह जैसे लोगों की मानसिकता हो सकती है।   अब गोली का जवाब गोले से देते हैदिग्विजय सिंह द्वारा 370 हटाने के बाद आतंकवाद समाप्त होने और कश्मीर के हालातों में सुधार पर सवाल उठाए जाने पर गृह मंत्री ने दिग्गी को जमकर लताड़ा। उन्होंने निशाना साधते हुए कहा कि वो खुद जाकर देख ले आतंकवाद खत्म हुआ या नही। आज पूरी देश की मीडिया वहां पर है, कोई खबर आ रही है क्या। उन्होंने कहा कि जब मनमोहन सिंह प्रधानमंत्री थे तब के आतंकवाद और आज की तुलना कर ले। पूरे देश के आतंकवाद की तुलना कर ले दिग्विजय। जब मनमोहन सिंह पीएम थे तो रेलवे स्टेशन के अंदर घुसते ही अनाउंस होता था कि स्टेशन पर कोई भी लावारिस चीज मिले तो हाथ न लगाए, उसमें बम हो सकता है। मंत्री मिश्रा ने कहा कि पहले आतंकवादी घुसते थे तो कभी अक्षरधाम, कभी मुंबई ताज में देश भर में बम ब्लास्ट हो जाते थे, चलती रेल में बम ब्लास्ट हो जाते थे। अब कश्मीर से ही नहीं निकल पाते है। पहले पाकिस्तान की गोली आती थी वार्ता होती थी, कबूतर उड़ाए जाते है। अब गोली आती है तो यहां से गोला जाता है, यह अंतर है।   दिग्विजय सिंह को नही संवैधानिक संस्था पर भरोसा इसके अलावा दिग्विजय सिंह और विवेक तन्खा द्वारा चुनाव आयुुक्त की शिकायत किए जाने पर मंत्री मिश्रा ने कहा कि दिग्विजय सिंह के पास कोई काम नहीं है तो फिर शिकायतें ही करेंगे। दिग्विजय सिंह को कोई चुनावी सभा में नहीं बुलाता। इन्हें इतना खाली नहीं छोडऩा चाहिए। उनका किसी संवैधानिक संस्था पर विश्वास रहा नही, कभी वे सेना पर उंगली उठाते हैं तो कभी न्यायपालिका के खिलाफ।चुनाव में हार जाए तो कहते हैं ईवीएम खराब है अब यह फिर उसी की रिहर्सल की ओर जा रहे हैं। उपचुनाव के नतीजों से पहले ही चुनाव आयोग पर सवाल उठा रहे हैं। उपचुनाव के परिणाम आने के बाद यही कहते फिरेंगे प्रशासन का दुरुपयोग कर रहे हैं और ईवीएम भी खराब है। उन्हें मालूम है कि कांग्रेस की हार तय है।   राहुल गांधी के नाम पर नहीं मिलते वोटभाजपा के डिजिटल प्रचार रथों से ज्योतिरादित्य सिंधिया की फोटो नदारद होने पर मंत्री मिश्रा ने कहा कि ज्योतिरादित्य सिंधिया तो हमारे दिलों में बसते हैं। मप्र भाजपा के प्रचार रथों पर मुख्यमंत्री और प्रदेश अध्यक्ष का फोटो है, लेकिन कांग्रेस के वचन पत्र में राहुल गांधी सिरे से नदारद हैं। मतलब साफ है कि कांग्रेस को समझ में आ गया है कि अब उनके नाम पर वोट नहीं मिलते।   हमारा घोषणा पत्र विकास से जुड़ाइस दौरान गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने जल्द ही भाजपा के घोषणा पत्र जारी होने की बात कही। उन्होंने कहा कि हमारा घोषणा पत्र सिर्फ विकास से जुड़ा हुआ है। हमारे मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान रोज जो कहते हैं, सिंधिया बोलते है, हम सब कार्यकर्ता बोलते है, वहीं बातें लिखकर बोलना है। भाजपा का घोषणा पत्र  जल्दी आपके सामने होगा।   प्रदेश की रिकवरी रेट अच्छीकोरोना पर चर्चा करते हुए मंत्री मिश्रा ने कहा कि कोरोना पर प्रदेश में बहुत ही अच्छी रिकवरी रेट हो गई है। अब आप देखेंगे ए सिमपेटिक मरीज भी प्रदेश और देश में आना एक बार फिर कम हुए हैं। यह प्रॉफिट अब डाउन की ओर है। अब इसका बैग आता है या नहीं यह विशेषज्ञों की राय के ऊपर है। बहराइच सुधार काफी है।

Dakhal News

Dakhal News 14 October 2020


bhopal, BJP released list , star campaigners, Congress took,dig at Scindia

भोपाल। मप्र भाजपा ने विधानसभा उपचुनाव के लिए अपने स्टार प्रचारकों की सूची जारी कर दी है। मप्र के सीएम शिवराज सिंह चौहान समेत भाजपा के सभी दिग्गज नेताओं के नाम इस सूची में शामिल है। 30 नामों की इस सूची में भोपाल से भाजपा सांसद साध्वी प्रज्ञा का नाम शामिल नहीं है।   भाजपा के स्टार प्रचारकों की सूची में कांग्रेस को छोडक़र भाजपा में आए ज्योतिरादित्य सिंधिया का नाम 10वें नंबर पर रखा गया है। जबकि उन्हीं के साथ कांग्रेस की सरकार गिराकर भाजपा में शामिल हुए उनके किसी भी समर्थक का नाम इस लिस्ट में नहीं है। जिसके बाद राजनीतिक गलियारों में चर्चा हो रही है।   कांग्रेस ने साधा निशानाभाजपा के डिजिटल रथ से सिंधिया का पोस्टर गायब होने के बाद अब स्टार प्रचारकों की सूची में 10वें नंबर नाम होने पर कांग्रेस ने चुटकी ली है। कांग्रेस नेता नरेन्द्र सलूजा ने ट्वीट कर निशाना साधा है और कहा है कि भाजपा के स्टार प्रचारकों की सूची में सिंधिया का एक भी समर्थक शामिल नहीं, खुद सिंधिया का नाम 10 वे नंबर पर। कल डिजिटल रथ से भी गायब थे। कांग्रेस में चुनाव अभियान समिति के प्रमुख थे, क्या हालत हो गयी भाजपा में? भोपाल की सांसद प्रज्ञा ठाकुर भी गायब ? गौरतलब है कि मंगलवार को भाजपा के प्रचार प्रसार वाले डिजिटल रथों से भी सिंधिया की फोटो गायब थी।   इन नेताओं को मिली जिम्मेदारीस्टार प्रचारकों की सूची में जिन नेताओं के नाम है उनमें: वीडी शर्मा, शिवराज सिंह चौहान, दुष्यंत कुमार गौतम, विनय सहस्त्रबुद्धे, नरेन्द्र सिंह तोमर, थावरचंद गहलोत, कैलाश विजयवर्गीय, धमेन्द्र प्रधान, उमा भारती, ज्योतिरादित्य सिंधिया, प्रहलाद पटेल, फग्गन सिंह कुलस्ते, प्रभात झा, नंदकुमार सिंह चौहान, राकेश सिंह, सत्यनाराण जाटिया, लालसिंह आर्य, ओमप्रकाश धुर्वे, सुधीर गुप्ता, कृष्णमुरारी मोघे, हितानंद शर्मा, नरोत्तम मिश्रा, गोपाल भार्गव, भूपेन्द्र सिंह, जगदीश देवड़ा, कमल पटेल, यशोधरा राजे सिंधिया, जयभान सिंह पवैया, उमाशंकर गुप्ता के नाम शामिल है।  

Dakhal News

Dakhal News 14 October 2020


bhopal, BJP released list , star campaigners, Congress took,dig at Scindia

भोपाल। मप्र भाजपा ने विधानसभा उपचुनाव के लिए अपने स्टार प्रचारकों की सूची जारी कर दी है। मप्र के सीएम शिवराज सिंह चौहान समेत भाजपा के सभी दिग्गज नेताओं के नाम इस सूची में शामिल है। 30 नामों की इस सूची में भोपाल से भाजपा सांसद साध्वी प्रज्ञा का नाम शामिल नहीं है।   भाजपा के स्टार प्रचारकों की सूची में कांग्रेस को छोडक़र भाजपा में आए ज्योतिरादित्य सिंधिया का नाम 10वें नंबर पर रखा गया है। जबकि उन्हीं के साथ कांग्रेस की सरकार गिराकर भाजपा में शामिल हुए उनके किसी भी समर्थक का नाम इस लिस्ट में नहीं है। जिसके बाद राजनीतिक गलियारों में चर्चा हो रही है।   कांग्रेस ने साधा निशानाभाजपा के डिजिटल रथ से सिंधिया का पोस्टर गायब होने के बाद अब स्टार प्रचारकों की सूची में 10वें नंबर नाम होने पर कांग्रेस ने चुटकी ली है। कांग्रेस नेता नरेन्द्र सलूजा ने ट्वीट कर निशाना साधा है और कहा है कि भाजपा के स्टार प्रचारकों की सूची में सिंधिया का एक भी समर्थक शामिल नहीं, खुद सिंधिया का नाम 10 वे नंबर पर। कल डिजिटल रथ से भी गायब थे। कांग्रेस में चुनाव अभियान समिति के प्रमुख थे, क्या हालत हो गयी भाजपा में? भोपाल की सांसद प्रज्ञा ठाकुर भी गायब ? गौरतलब है कि मंगलवार को भाजपा के प्रचार प्रसार वाले डिजिटल रथों से भी सिंधिया की फोटो गायब थी।   इन नेताओं को मिली जिम्मेदारीस्टार प्रचारकों की सूची में जिन नेताओं के नाम है उनमें: वीडी शर्मा, शिवराज सिंह चौहान, दुष्यंत कुमार गौतम, विनय सहस्त्रबुद्धे, नरेन्द्र सिंह तोमर, थावरचंद गहलोत, कैलाश विजयवर्गीय, धमेन्द्र प्रधान, उमा भारती, ज्योतिरादित्य सिंधिया, प्रहलाद पटेल, फग्गन सिंह कुलस्ते, प्रभात झा, नंदकुमार सिंह चौहान, राकेश सिंह, सत्यनाराण जाटिया, लालसिंह आर्य, ओमप्रकाश धुर्वे, सुधीर गुप्ता, कृष्णमुरारी मोघे, हितानंद शर्मा, नरोत्तम मिश्रा, गोपाल भार्गव, भूपेन्द्र सिंह, जगदीश देवड़ा, कमल पटेल, यशोधरा राजे सिंधिया, जयभान सिंह पवैया, उमाशंकर गुप्ता के नाम शामिल है।  

Dakhal News

Dakhal News 14 October 2020


bhopal, Photo of Scindia, from banner poster,BJP

भोपाल। मध्य प्रदेश में 28 विधानसभा सीटों पर होने वाले उपचुनाव में भाजपा ने प्रचार प्रसार के लिए डिजिटल रथों को मैदान में उतारा है। उपचुनाव के प्रचार प्रसार में तेजी लाने के लिए भाजपा ने डिजिटल रथ अभियान की शुरूआत की है। मंगलवार को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा ने भाजपा कार्यालय से रथों को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। 28 सीटों पर अब एलईडी वीडियो की सुविधा से सुसज्जित रथ से प्रचार करेंगे।   लेकिन रथों की रवानगी कार्यक्रम के दौरान हैरान करने वाली तस्वीर सामने आई। सीएम शिवराज और वीडी शर्मा की फोटो से सजे इन रथों पर ज्योतिरादित्य सिंधिया गायब है, जिसके बाद सवाल उठ रहे है कि ‘क्या सिंधिया एक बार फिर भाजपा के पोस्टर बॉय नहीं बन पाए’। दरअसल अपने ही गढ़ में चुनावी रथ से ज्योतिरादित्य सिंधिया की फोटो नदारद थी। प्रचार के लिए डिजिटल रथ में लगे भाजपा के बैनर पोस्टर में सीएम शिवराज और प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा की फोटो तो है, लेकिन ज्योतिरादित्य सिंधिया की फोटो गायब रही। पोस्टर में एक ओर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और अध्यक्ष वीडी शर्मा की फोटो लगी है, जबकि दूसरी ओर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा की तस्वीर है। उपचुनाव में सबसे ज्यादा सीटें सिंधिया के रुतबे वाले ग्वालियर चंबल संभाग की है। ऐसे में चुनावी रथ से सिंधिया का फोटो नदारद होने पर राजनीतिक कानाफूसी तेज हो गई है। वहीं कांग्रेस इस मामले को भूनाने की कोशिश में भी जुट गई है।   हालांकि यह पहला मौका नहीं है, जब भाजपा के पोस्टर में सिधिंया गैरमौजूद हो। इससे पहले भी कई मौकों पर पोस्टर राजनीति सामने आ चुकी है जब सिंधिया की फोटो भाजपा के बैनर और पोस्टरों से गायब रही है। बता दें कि भाजपा के डिजिटल अभियान में शिवराज है तो विश्वास है का नारा दिया गया है। डिजिटल रथ 28 विधानसभा में भ्रमण करेगी। वहीं मतदाताओं से बीजेपी के पक्ष में वोट करने की अपील कार्यकर्ता वोटरों से करेंगे। ऐसे में एक बार फिर चुनावी रथ से सिंधिया की फोटो का नदारद होना कई सवाल पैदा कर रहा है।

Dakhal News

Dakhal News 13 October 2020


bhopal, Photo of Scindia, from banner poster,BJP

भोपाल। मध्य प्रदेश में 28 विधानसभा सीटों पर होने वाले उपचुनाव में भाजपा ने प्रचार प्रसार के लिए डिजिटल रथों को मैदान में उतारा है। उपचुनाव के प्रचार प्रसार में तेजी लाने के लिए भाजपा ने डिजिटल रथ अभियान की शुरूआत की है। मंगलवार को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा ने भाजपा कार्यालय से रथों को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। 28 सीटों पर अब एलईडी वीडियो की सुविधा से सुसज्जित रथ से प्रचार करेंगे।   लेकिन रथों की रवानगी कार्यक्रम के दौरान हैरान करने वाली तस्वीर सामने आई। सीएम शिवराज और वीडी शर्मा की फोटो से सजे इन रथों पर ज्योतिरादित्य सिंधिया गायब है, जिसके बाद सवाल उठ रहे है कि ‘क्या सिंधिया एक बार फिर भाजपा के पोस्टर बॉय नहीं बन पाए’। दरअसल अपने ही गढ़ में चुनावी रथ से ज्योतिरादित्य सिंधिया की फोटो नदारद थी। प्रचार के लिए डिजिटल रथ में लगे भाजपा के बैनर पोस्टर में सीएम शिवराज और प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा की फोटो तो है, लेकिन ज्योतिरादित्य सिंधिया की फोटो गायब रही। पोस्टर में एक ओर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और अध्यक्ष वीडी शर्मा की फोटो लगी है, जबकि दूसरी ओर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा की तस्वीर है। उपचुनाव में सबसे ज्यादा सीटें सिंधिया के रुतबे वाले ग्वालियर चंबल संभाग की है। ऐसे में चुनावी रथ से सिंधिया का फोटो नदारद होने पर राजनीतिक कानाफूसी तेज हो गई है। वहीं कांग्रेस इस मामले को भूनाने की कोशिश में भी जुट गई है।   हालांकि यह पहला मौका नहीं है, जब भाजपा के पोस्टर में सिधिंया गैरमौजूद हो। इससे पहले भी कई मौकों पर पोस्टर राजनीति सामने आ चुकी है जब सिंधिया की फोटो भाजपा के बैनर और पोस्टरों से गायब रही है। बता दें कि भाजपा के डिजिटल अभियान में शिवराज है तो विश्वास है का नारा दिया गया है। डिजिटल रथ 28 विधानसभा में भ्रमण करेगी। वहीं मतदाताओं से बीजेपी के पक्ष में वोट करने की अपील कार्यकर्ता वोटरों से करेंगे। ऐसे में एक बार फिर चुनावी रथ से सिंधिया की फोटो का नदारद होना कई सवाल पैदा कर रहा है।

Dakhal News

Dakhal News 13 October 2020


guna, Kamal Nath , public should teach, traitors a lesson

गुना।  मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने आज बमौरी क्षेत्र में कांग्रेस प्रत्याशी कन्हैयालाल अग्रवाल के समर्थन में आमसभा को संबोधित किया। सभा के दौरान कमलनाथ के निशाने पर ज्योतिरादित्य सिंधिया और शिवराज सिंह चौहान रहे। उन्होंने कांग्रेस सरकार गिराए जाने को लेकर सिंधिया और शिवराज की जमकर पोल खोली और जनता से आव्हान किया कि भाजपा शासित गद्दारों की सरकार को सबक सिखाकर बमौरी की जनता नया उदाहरण पेश करे।कमलनाथ ने अपने भाषण के दौरान कहाकि बमौरी क्षेत्र की भोली-भाली जनता को जिस तरह ठगा गया, उससे वह भी हतप्रभ हैं। वह पूरे प्रदेश में घूम रहे हैं, जहां जनता भाजपा और सिंधिया की करतूत से नाराज है। यह उपचुनाव इस नाराजगी को बयां करने का जरिया है। इसमें लोग पूरी सिद्दत के साथ गद्दारों को सबक सिखाएं। कमलनाथ ने कहाकि केवल 15 महीनों में उन्होंने प्रदेश के किसानों का कर्जा माफ कर दिया। इसकी वजह से हजारों-लाखों किसान आत्महत्या करने से बच गए। कांग्रेस ने मिलावटखोरों के खिलाफ अभियान चलाया तो भाजपा डर गई। उनकी सरकार ने लोगों के बिजली के बिल केवल 100 रुपए कर दिए, मुख्यमंत्री कन्यादान योजना की राशि दोगुनी कर दी। लेकिन भाजपा को गरीबों का भला करने गलती लगा और उन्होंने गद्दारी दिखाते हुए जनता का भला करने वाली सरकारी गिरा दी। उन्होंने बमौरी के मतदाताओं की प्रशंसा करते हुए कहाकि वह पूरे मध्यप्रदेश में घूमते हैं, ऐसे सीधे-साधे लोग कही नहीं हैं। कमलनाथ यहीं नहीं रुके। एक दिन पहले सागर में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को अभिनेता बताने वाले बयान को आगे बढ़ाते हुए कमलनाथ ने कहाकि शिवराज पहले मामा थे, लेकिन जिस तरह का वह अभिनय करते हैं उससे तो देश के एक्टर सलमान और शाहरुख भी शर्मा जाएं। यदि शिवराज मुम्बई चले जाएं तो यह दोनों अभिनेता भी पीछे रह जाएंगे। बमौरी उपचुनाव की आमसभा के दौरान अतिथि शिक्षकों का मुद्दा भी छाया रहा। दरअसल, ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कांग्रेस सरकार के दौरान अतिथि शिक्षकों के सामने ही सडक़ों पर उतरने की बात कही थी। इस बयान पर चुटकी लेते हुए कमलनाथ ने कहाकि अब कहां हैं सिंधिया? न तो वह अतिथि शिक्षकों की ढाल बने और न ही तलवार। उन्होंने अतिथि शिक्षकों को विश्वास दिलाया कि वह प्रदेश में रोजगार देने के लिए प्रतिबद्ध हैं, अतिथि शिक्षकों की भी चिंता की जाएगी। सभा में मौजूद कांग्रेस प्रत्याशी कन्हैयालाल ने जोशीले अंदाज में राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया पर निशाना साधा। कन्हैयालाल ने कहाकि दो दिन पहले ही ज्योतिरादित्य ने म्याना में आयोजित सभा में कहा था कि जो झूठ बोलता है उसे कौआ काटता है। अब वह ही तय कर लें कि वह टाइगर हैं या कौआ। बमौरी में स्वीकृत 4 सौ करोड़ की योजना को झूठ का पिटारा बताते हुए कन्हैयालाल ने कहाकि जिस गोपीसागर बांध से यह पानी लाने की बात कर रहे हैं वह एनएफएल के लिए बना है, तो बमौरी को पानी कैसे मिलेगा? बमौरी की उपचुनावी सभा में गद्दारी और विधायकों की खरीद-फरोख्त का मुद्दा जमकर छाया रहा। सभा के दौरान पूर्व केन्द्रीय मंत्री कांतिलाल भूरिया, पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अरुण यादव, पूर्व नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह, पूर्व मंत्री जयवर्धन सिंह, हुकुम सिंह कराड़ा आदि भी मौजूद रहे।

Dakhal News

Dakhal News 13 October 2020


guna, Kamal Nath , public should teach, traitors a lesson

गुना।  मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने आज बमौरी क्षेत्र में कांग्रेस प्रत्याशी कन्हैयालाल अग्रवाल के समर्थन में आमसभा को संबोधित किया। सभा के दौरान कमलनाथ के निशाने पर ज्योतिरादित्य सिंधिया और शिवराज सिंह चौहान रहे। उन्होंने कांग्रेस सरकार गिराए जाने को लेकर सिंधिया और शिवराज की जमकर पोल खोली और जनता से आव्हान किया कि भाजपा शासित गद्दारों की सरकार को सबक सिखाकर बमौरी की जनता नया उदाहरण पेश करे।कमलनाथ ने अपने भाषण के दौरान कहाकि बमौरी क्षेत्र की भोली-भाली जनता को जिस तरह ठगा गया, उससे वह भी हतप्रभ हैं। वह पूरे प्रदेश में घूम रहे हैं, जहां जनता भाजपा और सिंधिया की करतूत से नाराज है। यह उपचुनाव इस नाराजगी को बयां करने का जरिया है। इसमें लोग पूरी सिद्दत के साथ गद्दारों को सबक सिखाएं। कमलनाथ ने कहाकि केवल 15 महीनों में उन्होंने प्रदेश के किसानों का कर्जा माफ कर दिया। इसकी वजह से हजारों-लाखों किसान आत्महत्या करने से बच गए। कांग्रेस ने मिलावटखोरों के खिलाफ अभियान चलाया तो भाजपा डर गई। उनकी सरकार ने लोगों के बिजली के बिल केवल 100 रुपए कर दिए, मुख्यमंत्री कन्यादान योजना की राशि दोगुनी कर दी। लेकिन भाजपा को गरीबों का भला करने गलती लगा और उन्होंने गद्दारी दिखाते हुए जनता का भला करने वाली सरकारी गिरा दी। उन्होंने बमौरी के मतदाताओं की प्रशंसा करते हुए कहाकि वह पूरे मध्यप्रदेश में घूमते हैं, ऐसे सीधे-साधे लोग कही नहीं हैं। कमलनाथ यहीं नहीं रुके। एक दिन पहले सागर में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को अभिनेता बताने वाले बयान को आगे बढ़ाते हुए कमलनाथ ने कहाकि शिवराज पहले मामा थे, लेकिन जिस तरह का वह अभिनय करते हैं उससे तो देश के एक्टर सलमान और शाहरुख भी शर्मा जाएं। यदि शिवराज मुम्बई चले जाएं तो यह दोनों अभिनेता भी पीछे रह जाएंगे। बमौरी उपचुनाव की आमसभा के दौरान अतिथि शिक्षकों का मुद्दा भी छाया रहा। दरअसल, ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कांग्रेस सरकार के दौरान अतिथि शिक्षकों के सामने ही सडक़ों पर उतरने की बात कही थी। इस बयान पर चुटकी लेते हुए कमलनाथ ने कहाकि अब कहां हैं सिंधिया? न तो वह अतिथि शिक्षकों की ढाल बने और न ही तलवार। उन्होंने अतिथि शिक्षकों को विश्वास दिलाया कि वह प्रदेश में रोजगार देने के लिए प्रतिबद्ध हैं, अतिथि शिक्षकों की भी चिंता की जाएगी। सभा में मौजूद कांग्रेस प्रत्याशी कन्हैयालाल ने जोशीले अंदाज में राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया पर निशाना साधा। कन्हैयालाल ने कहाकि दो दिन पहले ही ज्योतिरादित्य ने म्याना में आयोजित सभा में कहा था कि जो झूठ बोलता है उसे कौआ काटता है। अब वह ही तय कर लें कि वह टाइगर हैं या कौआ। बमौरी में स्वीकृत 4 सौ करोड़ की योजना को झूठ का पिटारा बताते हुए कन्हैयालाल ने कहाकि जिस गोपीसागर बांध से यह पानी लाने की बात कर रहे हैं वह एनएफएल के लिए बना है, तो बमौरी को पानी कैसे मिलेगा? बमौरी की उपचुनावी सभा में गद्दारी और विधायकों की खरीद-फरोख्त का मुद्दा जमकर छाया रहा। सभा के दौरान पूर्व केन्द्रीय मंत्री कांतिलाल भूरिया, पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अरुण यादव, पूर्व नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह, पूर्व मंत्री जयवर्धन सिंह, हुकुम सिंह कराड़ा आदि भी मौजूद रहे।

Dakhal News

Dakhal News 13 October 2020


bhopal, Union Minister Tomar ,tightens Congress, accuses Kamal Nath , vandalism

भोपाल। केन्द्रीय मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर उपचुनाव से पहले कांग्रेस पर जमकर बरसे हैं। उन्होंने निशाना साधते हुए कहा है कि मप्र में कांग्रेस पूरी तरह खत्म हो चुकी है और साथ ही उपचुनाव में बीजेपी की जीत का दावा किया है। मंगलवार को मीडिया से बातचीत करते हुए उन्होंने कहा कि नारों से चुनाव नहीं जीते जाते, ऐसा होता तो कांग्रेस खत्म नहीं होती। राहुल, प्रियंका, पायलट ने यूपी में भी प्रचार किया था, वही हश्र एमपी में भी होगा।   इस दौरान केन्द्रीय मंत्री तोमर ने तंज कसते हुए कहा कि कांग्रेस में दम बचा नहीं है, उपचुनाव में कांग्रेस बुरी तरह हारेगी। वहीं, ग्वालियर-चम्बल उपचुनाव पर उन्होंने कहा कि कमलनाथ ने 2018 के चुनाव में किसान कर्जमाफी का वादा किया था। कमलनाथ ने किसान कर्जमाफी को लेकर वादाखिलाफी की, कर्जमाफी न होने के चलते कांग्रेस में आंतरिक विरोध हुआ है। कमलनाथ की 15 माह की सरकार में भ्रष्टाचार चरम पर था।   उन्होंने प्रदेश में भाजपा सरकार की तारीफ करते हुए कहा कि मुख्यमंत्री शिवराज ने पिछले 15 साल और अभी छ: माह के कार्यकाल में किसानों के हित मे फैसले लिए। इस दौरान उपचुनाव के दौरान स्तरहीन बयानबाजी को लेकर केन्द्रीय मंत्री  ने कहा कि दिमाग में जब कुछ मटेरियल नहीं होता तो ऐसी बयानबाजी होती है। कांग्रेस नेता शिवराज सिंह चौहान को भूखे नंगे घर के बता रहे हैं, इस देश मे गरीब होना क्या अभिशाप है। कमलनाथ अगर बड़े घर के है तो उन्होंने क्या कर दिया। शिवराज ने अपने परिश्रम से ये मुकाम हासिल किया, इसलिए 13 साल सीएम रहें। उन्होंने दावा करते हुए कहा कि उपचुनाव में भाजपा की स्थिति मजबूत है।   कृषि बिल पर कांग्रेस का रवैया दोहराकेंद्रीय कृषि बिल पर नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि ये बिल अभूतपूर्व बदलाव लाने वाले हैं। इससे पहले यूपीए ने भी कृषि बिल लाने की कोशिश की थी, यूपीए कुछ लोगों के दबाव में कृषि बिल नहीं ला सका। लेकिनन पीएम मोदी की संकल्प से कृषि बिल ला पाए। बिल को लेकर कांग्रेस के विरोध को अप्रासंगिक बताते हुए उन्होंने कहा कि कांग्रेस का कृषि बिल पर दोहरा रवैया है। नरेंद्र सिंह तोमर ने सलाह देते हुए कहा कि कांग्रेस दो मुंही राजीनीति से बाज आना चाहिए।

Dakhal News

Dakhal News 13 October 2020


bhopal,Amir, Happy Kamal Nath, let us remain bare-hungry,shivraj Singh

भोपाल। कांग्रेस तो बौरा गई है, बौखला गई है। हर दिन अपनी बौखलाहट हमारे ऊपर निकाल रही है। आज कांग्रेस का नया बयान आया है। कांग्रेस के एक नेता कह रहे हैं कि कमलनाथ तो देश के नंबर दो उद्योगपति हैं और शिवराज सिंह तो नंगे-भूखे हैं। तुम्हारी अमीरी तुम्हें मुबारक हो कमलनाथ, लेकिन हम नंगे-भूखों पर ऊंगली मत उठाओ। हम ऐसे ही ठीक हैं, हमें नंगे-भूखे ही रहने दो ताकि हम गरीबों का दर्द महसूस कर सकें, उनकी जिंदगी भर सेवा करते रहें। यह बात मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने सोमवार को गुना जिले की बमोरी विधानसभा के परवाह और शिवपुरी जिले की करैरा विधानसभा के करही में मंडल सम्मेलनों को संबोधित करते हुए कही।   कभी भूख और गरीबी देखी है कमलनाथ! मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सवाल किया कि उद्योगपति कमलनाथ, तुमने कभी भूख और गरीबी देखी है? कभी बीमारी और मौत देखी है? कभी गांव देखे हैं, खेत देखे हैं, खेतों की पगडंडियां देखी हैं, कीचड़ देखी है, धूल देखी है? तुम क्या गरीबों का दर्द जानोगे? हम नंगे-भूखे हैं और गरीबों के दर्द को जानते हैं। इसीलिए उनकी सेवा में लगे रहते हैं। हम नंगे-भूखे हैं, इसीलिए हमने गरीबों के लिए संबल योजना बनाई। हम नंगे भूखे हैं, इसलिए ये चाहते हैं कि गरीबों के बच्चे भी पलें, उनके घरों में भी जन्म की खुशियां मनाई जाएं, इसीलिए हम बेटे-बेटी के जन्म पर 16000 रुपये देते हैं। हमने गरीबी के कारण परिवारों को बिखरते देखा है, इसलिए हम गरीब परिवार के मुखिया की दुर्घटना में मौत पर 4 लाख और सामान्य मौत पर 2 लाख की सहायता देते हैं। हम नंगे-भूखे हैं, इसीलिए ये चाहते हैं कि हर गरीब की दुनिया से विदाई सम्मान के साथ हो। इसके लिए हम गरीबों के अंतिम संस्कार के लिए पांच हजार रुपये देते हैं। स्कूल-कॉलेज में बच्चों की फीस भरवाते हैं, उन्हें लेपटॉप देते हैं, स्मार्टफोन देते हैं, बेटियों की शादी कन्यादान योजना में करवाते हैं, बुजुर्गों को तीर्थदर्शन कराने ले जाते हैं, किसानों को शून्य प्रतिशत दर पर ऋण देते हैं। लेकिन उद्योगपति कमलनाथ ने प्रदेश के गरीबों का हक छीन लिया। उनका सहारा, संबल योजना छीन ली, गरीब परिवारों की खुशियां छीन लीं और गरीबों से उनका कफन भी छीन लिया।   नारियल नहीं, तो क्या शराब की बोतल साथ रखूं? मुख्यमंत्री  चौहान ने कहा कि अभी कुछ दिन पहले कमलनाथ कह रहे थे कि मुख्यमंत्री तो हाथ में नारियल लेकर चलते हैं। हम तो नारियल भगवान को चढ़ाते हैं और मेरे लिए तो मेरी जनता ही भगवान है। उसकी सेवा ही भगवान की पूजा है। जनता कहती कि हमारा ये काम कर दो तो हम कर देते हैं। पंडितजी बोलते हैं कि नारियल चढ़ा दो तो चढ़ा देते हैं। इससे कमलनाथ के पेट में दर्द होता है। अब नारियल लेकर न चलूं तो क्या शराब की बोतल लेकर चलूं? उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार ने बमोरी क्षेत्र की जनता के लिए ग्वालटोरियल डेम स्वीकृत कर दिया है। 491 करोड़ रूपए की गोपीकृष्ण समूह पेयजल योजना शुरू की है। इससे 300 गांवों को पानी मिलेगा। कांग्रेस ने तो विकास के कार्य किए नहीं। अब हम कर रहे हैं तो इसमें भी उन्हें तकलीफ हो रही है।   मंडल सम्मेलनों में गुना सांसद केपी यादव, जिलाध्यक्ष गजेंद्र सिकरवार, संयोजक ओएन शर्मा, हरीश यादव, पूर्व विधायक ममता मीना, राजेंद्र सलूजा, राधेश्याम धाकड़, हेमराज, मनु सिंह, हरिचरण नागर, हेमराज किरार, अतुल रघुवंशी, संतोष धाकड़, प्रदेश महामंत्री रणवीर सिंह रावत, केके श्रीवास्तव, जसवंत जाटव, रमेश खटिक, प्रीतम लोधी, प्रियंका भारती, रामगोपाल चैधरी, जगराम रावत सहित बड़ी संख्या में पदाधिकारी एवं कार्यकर्ता मौजूद रहे।

Dakhal News

Dakhal News 12 October 2020


bhopal, Former minister, Umang Singar, Corona infected, hospitalized

भोपाल। मध्य प्रदेश में कोरोना संक्रमण के मामले थमने का नाम नहीं रहे हैं। प्रदेश के राजनेता भी खुद को इसकी चपेट में आने से नहीं बचा पा रहे हैं। इस बीच अब वरिष्ठ कांग्रेस नेता और पूर्व वनमंत्री उमंग सिंगार भी कोरोना संक्रमित हो गए हैं। उन्हें उपचार के लिए इंदौर के बाम्बे अस्पताल में भर्ती कराया गया है। पूर्व मंत्री सिंगार ने इस बात की जानकारी अपने सोशल मीडिया अकाउंट ट्वीट पर एक वीडियो साझा कर दी है।   उन्होंने ट्वीट कर अपने कोरोना संक्रमित होने की जानकारी साझा की है। उन्होंने ट्वीट कर कहा कि उनकी रिपोर्ट जांच में कोरोना पॉजिटिव आई है। इस मुश्किल समय में आपका साथ और स्नेह मेरी सबसे बड़ी ताक़त है! जल्द स्वस्थ होकर आपके बीच आऊंगा। साथ ही उन्होंने लोगों से खुद का और प्रियजनों का ध्यान रखने की अपील की। इसके अलावा उन्होंने बदनावर उपचुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी कमल सिंह पटेल को जितवाने की बात कही।   उल्लेखनीय है कि इससे पहले सीएम शिवराज सिंह चौहान समेत उनके कैबिनेट के 7 मंत्री और कई भाजपा विधायक कोरोना संक्रमित की चपेट में आ चुके है और स्वस्थ हो गए है। इनके अलावा कांग्रेस पार्टी के भी कई नेता कोरोना पॉजिटिव हो चुके हैं।

Dakhal News

Dakhal News 12 October 2020


bhopal, CM Shivraj, speaks against opposition ,agriculture bill

भोपाल। केन्द्र सरकार द्वारा लाए गए कृषि बिल को लेकर राजनीति जोरों से चल रही है। कांग्रेस लगातार कृषि बिल को किसान विरोधी बता रही है और सरकार से इसे वापस लेने की मांग कर रही है। कांग्रेस के आरोपों के बीच मप्र के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का बड़ा बयान सामने आया है। सीएम शिवराज ने कांग्रेस पार्टी पर भ्रम फैलाने का आरोप लगाया है। साथ ही उन्होंने कहा है कि यह तीनों कृषि बिल किसान के हित में है किसानों की आय दोगुनी करने के लिए हैं। सीएम शिवराज सिंह चौहान ने शुक्रवार को मीडिया से बातचीत करते हुए कांग्रेस के विरोध पर पलटवार किया है। उन्होंने कहा कि कृषि बिल के विषय पर कांग्रेस के पास न "नौ मन तेल होगा न राधा नाचेगी" पता नहीं क्यों कांग्रेस कृषि बिल पर भ्रम फैला रही है। एक तरफ खेती से अंजान राहुल गांधी ट्रैक्टर पर सोफा लगाकर घूम रहे हैं। जिन्हें यह भी नहीं पता कि प्याज ज़मीन के नीचे होता है या ऊपर होता है। यह तीनों कृषि बिल किसान के हित में है किसानों की आय दोगुनी करने के लिए हैं। सीएम शिवराज ने आगे कहा कि मोदी सरकार की तीन कृषि बिल किसानों के हित में है। इस बिल से किसानों की आय दोगुनी होगी। सरकार ने सभी के हितों को ध्यान में रखकर कृषि बिल को लाया है। गौरतलब है कि कृषि बिल को लेकर कांग्रेस विरोध कर रही है। देश के पंजाब, हरियाणा, दिल्ली, छत्तीसगढ़, मध्यप्रदेश सहित अन्य राज्यों में कांग्रेस और किसान संगठनों ने प्रदर्शन किया। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से बिल को वापस लेने की मांग की है।

Dakhal News

Dakhal News 9 October 2020


bhopal, CM Shivraj, speaks against opposition ,agriculture bill

भोपाल। केन्द्र सरकार द्वारा लाए गए कृषि बिल को लेकर राजनीति जोरों से चल रही है। कांग्रेस लगातार कृषि बिल को किसान विरोधी बता रही है और सरकार से इसे वापस लेने की मांग कर रही है। कांग्रेस के आरोपों के बीच मप्र के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का बड़ा बयान सामने आया है। सीएम शिवराज ने कांग्रेस पार्टी पर भ्रम फैलाने का आरोप लगाया है। साथ ही उन्होंने कहा है कि यह तीनों कृषि बिल किसान के हित में है किसानों की आय दोगुनी करने के लिए हैं। सीएम शिवराज सिंह चौहान ने शुक्रवार को मीडिया से बातचीत करते हुए कांग्रेस के विरोध पर पलटवार किया है। उन्होंने कहा कि कृषि बिल के विषय पर कांग्रेस के पास न "नौ मन तेल होगा न राधा नाचेगी" पता नहीं क्यों कांग्रेस कृषि बिल पर भ्रम फैला रही है। एक तरफ खेती से अंजान राहुल गांधी ट्रैक्टर पर सोफा लगाकर घूम रहे हैं। जिन्हें यह भी नहीं पता कि प्याज ज़मीन के नीचे होता है या ऊपर होता है। यह तीनों कृषि बिल किसान के हित में है किसानों की आय दोगुनी करने के लिए हैं। सीएम शिवराज ने आगे कहा कि मोदी सरकार की तीन कृषि बिल किसानों के हित में है। इस बिल से किसानों की आय दोगुनी होगी। सरकार ने सभी के हितों को ध्यान में रखकर कृषि बिल को लाया है। गौरतलब है कि कृषि बिल को लेकर कांग्रेस विरोध कर रही है। देश के पंजाब, हरियाणा, दिल्ली, छत्तीसगढ़, मध्यप्रदेश सहित अन्य राज्यों में कांग्रेस और किसान संगठनों ने प्रदर्शन किया। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से बिल को वापस लेने की मांग की है।

Dakhal News

Dakhal News 9 October 2020


bhopal, Notification, by-elections,28 assembly seats, nomination process started

भोपाल। मध्यप्रदेश में विधानसभा की 28 रिक्त सीटों पर होने वाले उपचुनावों के लिए शुक्रवार को निर्वाचन आयोग द्वारा अधिसूचना जारी कर दी गई है। इसके साथ ही नाम निर्देशन पत्र दाखिल करने की प्रक्रिया भी शुरू हो गई है, जो कि आगामी 16 अक्टूबर तक चलेगी। निर्वाचन कार्यक्रम के अनुसार, प्रदेश की सभी 28 सीटों पर आगामी तीन नवम्बर को मतदान होगा और 10 नवम्बर को मतगणना के साथ परिणाम घोषित किये जाएंगे।    मप्र की 28 विधानसभा सीटों पर होने वाले उपचुनावों के लिए विधिवत अधिसूचना शुक्रवार सुबह संबंधित क्षेत्र के जिला निर्वाचन अधिकारियों द्वारा जारी की गई और इसके साथ ही नामांकन की प्रक्रिया भी शुरू हो गई। उम्मीदवार आगामी 16 अक्टूबर तक अपना नाम निर्देशन पत्र दाखिल कर सकेंगे। इसके बाद अगले दिन 17 अक्टूबर को नामांकन पत्रों की संवीक्षा (स्क्रूटनी) होगी, जबकि उम्मीदवार 19 अक्टूबर तक नाम वापस ले सकेंगे। सभी 28 विधानसभा क्षेत्रों में तीन नवम्बर को मतदान होगा, जबकि 10 नवम्बर को मतगणना होगी और इसी दिन उपचुनाव के नतीजे घोषित किये जाएंगे। इस बार उम्मीदवार ऑनलाइन नामांकन भी दाखिल कर सकते हैं। डोर टू डोर कैंपेन में प्रत्याशी के साथ 5 से ज्यादा लोग नहीं होंगे। उपचुनाव में कोरोना मरीज भी वोट डालेंगे। चुनाव आयोग इसकी भी व्यवस्था करेगी। चुनाव प्रचार सिर्फ वर्चुअल होगा।    प्रदेश की जिन सीटों पर उपचुनाव हो रहे हैं, उनमें से सुमावली, मुरैना, दिमनी अंबाह, मेहगांव, गोहद, ग्वालियर, ग्वालियर पूर्व, डबरा, भांडेर, करेरा, पोहरी, बामोरी, अशोकनगर, मुंगावली, सुरखी, सांची, अनूपपुर, सांवेर, हाटपिपल्या, सुवासरा, बदनावर, आगर-मालवा, जौरा, नेपानगर, मलहारा, मंधाता और ब्यावरा शामिल है।   इन्हें मिले टिकट   भाजपा ने जौरा से सूबेदार सिंह रजौधा, सुमावरी से एदल सिंह कंसाना, मुरैना से रघुराज सिंह कंसाना, दिमनी से गिर्राज डण्डौतिया, अम्बाह से कमलेश जाटव, मेहगांव से ओपीएस भदौरिया, गोहद से रणवीर सिंह जाटव, ग्वालियर मध्य से प्रद्युम्न सिंह तोमर, ग्वालियर पूर्व से मुन्नालाल गोयल, डबरा से इमरती देवी सुमन, भांडेर से रक्षा संतराम सरोनिया, करेरा से जसमंत जाटव छितरी, पोहरी से सुरेश धाकड़, बामोरी से महेन्द्र सिंह सिसोदिया, अशोकनगर से जजपाल सिंह जज्जी, मुंगावली से बृजेन्द्र सिंह यादव, सुरखी से गोविन्द सिंह राजपूत, मलेहरा से कुंवर प्रद्युम्न सिंह लोधी, अनूपपुर से बिसाहूलाल सिंह, सांची से डॉ. प्रभुराम चौधरी, ब्यावरा से नारायण सिंह पवार, आगरमालवा से मनोज ऊंटवाल, हाटपिपल्या से मनोज चौधरी, मंधाता से नारायण पटेल, नेपानगर से सुमित्रा देवी कास्डेकर, बदनावर से राजवर्धन सिंह दत्तीगांव, सांवेर से तुलसीराम सिलावट और सुवासरा से हरदीप सिंह डंग को टिकट दिया गया है।   वहीं, कांग्रेस ने दिमनी से रविन्द्र सिंह तोमर, भांडेर से फूलसिंह बरैया, अम्बाह से सत्यप्रकाश सिकरवार, गोहद से मेवाराम जाटव, अशोकनर से आशा दोहरे, आगरमालवा से विपिन वानखेड़े, सांवेर से प्रेमचंद्र गुड्डू, नेपानगर से रामसिंह पटेल, हाटपिपल्या से राजवीर सिंह बघेल, अनूपुर से विश्वनाथ सिंह, सांची से मदनलाल चौधरी, बमोरी से कन्हैयालाल अग्रवाल, करेरा से प्रागीलाल जाटव, डबरा से सुरेश राजा, ग्वालियर मध्य से सुनील शर्मा, जौरा से पंकज उपाध्याय, सुमावली से अजब कुशवाहा, ग्वालियर पूर्व से सतीश सिकरवार, पोहरी से हरिबल्लभ शुक्ला, मुंगावली से कन्हैयालाल लोधी, सुरखी से पारुल साहू, मांधाता से उत्तम राज सिंह, बदनावर से कमल पटेल, सुवासरा से राकेश पाटीदार, मुरैना से राकेश मवई, मेहगांव से हेमंत कटारे, ब्यावरा से रामचंद्र दांगी और मलेहरा से रामसिया त्रिपाठी को उम्मीदवार घोषित किया है। उपचुनाव में बसपा भी मैदान में है।

Dakhal News

Dakhal News 9 October 2020


bhopal, Narottam Mishra, tightened, Congress Dalit, concerns about, party interest

भोपाल। मध्य प्रदेश में चुनावी सरगर्मी के बीच बयानबाजी भी तेज हो गई है। प्रदेश के गृह एवं जेल मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने हाथरस मामले को लेकर चल रही राजनीति पर कांग्रेस पर बड़ा हमला बोला है। उन्होंने कहा है कि कांग्रेस को दलित नहीं "दलहित" की चिंता रहती है। इसीलिए वो अपने राजनीतिक लाभ के लिए दलितों का इस्तेमाल करती है। हाथरस की घटना में भी उसकी साजिश सामने आ रही है। उसने हमेशा समाज को बांटने वाले तत्वों का पक्ष लिया है।   डॉ नरोत्तम मिश्रा ने गुरुवार को मीडिया से बातचीत करते हुए तंज कसा है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस का हाथ दंगाइयों के साथ है। कांग्रेस को दलित की नही, दलहित की चिंता है। कांग्रेस देश तोडऩे वाली ताकतों के साथ है और राहुल गांधी का हाथरस कनेक्शन सामने है। उन्होंने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि दलितों के हितों पर कुठारा घात किया, कांग्रेसी धोखे की राजनीति करते है। कांग्रेस देश में कुछ भी कर सकती है, देश को जातियों में बाटना चाहती है, हाथ रास संयोग नही एक प्रयोग था।     राहुल गांधी के बयान पर कसा तंज इस दौरान मंत्री मिश्रा ने राहुल गांधी पर तंज कसते हुए कहा कि 10 दिन में कर्ज माफ कर देंगे, 15 मिनिट में चीन साफ कर देंगे। उस गुरु को नमन जिन्होंने इन्हें पढ़ाया, इतनी अच्छी नस्ल के ये आते कहा से है।    कांग्रेस के आरोपों पर पलटवारकमलनाथ पर पथराव पर कांग्रेस के आरोपों पर मंत्री मिश्रा ने कहा कि जिला प्रशासन चुनाव आयोग के अधीन होता है, जहाँ चुनाव होता है। अभी तक वो इस प्रकार के हमले करा रहे थे, ये कांग्रेस के स्पॉन्सर से प्रेरित हुआ होगा कोई। उन्होंने कहा कि सस्ती लोकप्रियता के लिए खुद ने ऐसा किया होगा, भाजपा पर आरोप न लगाए।     खुद के बने जाल में उलझे कमलनाथबिकाऊ ओर टिकाऊ वाले मुद्दे पर डॉ मिश्रा ने कहा कि जो शुरुआत कांग्रेस ने की थी में वो उसी में उलझ रहे हैं। कमलनाथ अपने बने जाल में फंसे, खुद के बने जाल में उलझ कर अपनी सरकार गवां दी।  कमलनाथ को स्वीकार करना चाहिए कि वो अपने ही बुने जाल में फंसे हैं। तोडफ़ोड़ की राजनीति का आगाज उन्होंने ही किया था अब अंजाम भुगत रहे हैं। कांग्रेस सरकार उन्हीं की वजह से ही गिरी है, उन्हें इसका दोष किसी दूसरे के सिर नहीं मढऩा चाहिए।   कोरोना अभियान और प्रदेश के लोगों से अपील मंत्री मिश्रा ने कहा कि कोरोना का अभियान इसलिए जरूरी है कि पीएम ने शुरू से जो कदम उठाए वो विश्व में सराहे गए। मास्क बचाव का बड़ा रास्ता है मास्क ही वैक्सीन है। पीएम की अपील का अनुसरण सभी करें। देश में कोरोना वायरस से बचाव के लिए व्यापक जनजागरूकता अभियान चलाने के बारे में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी की राय बेहद अहम है। अब अनलॉक के दौर में जब जनजीवन तेजी से सामान्य हो रहा है तब हम सभी को ज्यादा सावधानी बरतने की जरूरत है।

Dakhal News

Dakhal News 8 October 2020


bhopal, Narottam Mishra, tightened, Congress Dalit, concerns about, party interest

भोपाल। मध्य प्रदेश में चुनावी सरगर्मी के बीच बयानबाजी भी तेज हो गई है। प्रदेश के गृह एवं जेल मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने हाथरस मामले को लेकर चल रही राजनीति पर कांग्रेस पर बड़ा हमला बोला है। उन्होंने कहा है कि कांग्रेस को दलित नहीं "दलहित" की चिंता रहती है। इसीलिए वो अपने राजनीतिक लाभ के लिए दलितों का इस्तेमाल करती है। हाथरस की घटना में भी उसकी साजिश सामने आ रही है। उसने हमेशा समाज को बांटने वाले तत्वों का पक्ष लिया है।   डॉ नरोत्तम मिश्रा ने गुरुवार को मीडिया से बातचीत करते हुए तंज कसा है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस का हाथ दंगाइयों के साथ है। कांग्रेस को दलित की नही, दलहित की चिंता है। कांग्रेस देश तोडऩे वाली ताकतों के साथ है और राहुल गांधी का हाथरस कनेक्शन सामने है। उन्होंने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि दलितों के हितों पर कुठारा घात किया, कांग्रेसी धोखे की राजनीति करते है। कांग्रेस देश में कुछ भी कर सकती है, देश को जातियों में बाटना चाहती है, हाथ रास संयोग नही एक प्रयोग था।     राहुल गांधी के बयान पर कसा तंज इस दौरान मंत्री मिश्रा ने राहुल गांधी पर तंज कसते हुए कहा कि 10 दिन में कर्ज माफ कर देंगे, 15 मिनिट में चीन साफ कर देंगे। उस गुरु को नमन जिन्होंने इन्हें पढ़ाया, इतनी अच्छी नस्ल के ये आते कहा से है।    कांग्रेस के आरोपों पर पलटवारकमलनाथ पर पथराव पर कांग्रेस के आरोपों पर मंत्री मिश्रा ने कहा कि जिला प्रशासन चुनाव आयोग के अधीन होता है, जहाँ चुनाव होता है। अभी तक वो इस प्रकार के हमले करा रहे थे, ये कांग्रेस के स्पॉन्सर से प्रेरित हुआ होगा कोई। उन्होंने कहा कि सस्ती लोकप्रियता के लिए खुद ने ऐसा किया होगा, भाजपा पर आरोप न लगाए।     खुद के बने जाल में उलझे कमलनाथबिकाऊ ओर टिकाऊ वाले मुद्दे पर डॉ मिश्रा ने कहा कि जो शुरुआत कांग्रेस ने की थी में वो उसी में उलझ रहे हैं। कमलनाथ अपने बने जाल में फंसे, खुद के बने जाल में उलझ कर अपनी सरकार गवां दी।  कमलनाथ को स्वीकार करना चाहिए कि वो अपने ही बुने जाल में फंसे हैं। तोडफ़ोड़ की राजनीति का आगाज उन्होंने ही किया था अब अंजाम भुगत रहे हैं। कांग्रेस सरकार उन्हीं की वजह से ही गिरी है, उन्हें इसका दोष किसी दूसरे के सिर नहीं मढऩा चाहिए।   कोरोना अभियान और प्रदेश के लोगों से अपील मंत्री मिश्रा ने कहा कि कोरोना का अभियान इसलिए जरूरी है कि पीएम ने शुरू से जो कदम उठाए वो विश्व में सराहे गए। मास्क बचाव का बड़ा रास्ता है मास्क ही वैक्सीन है। पीएम की अपील का अनुसरण सभी करें। देश में कोरोना वायरस से बचाव के लिए व्यापक जनजागरूकता अभियान चलाने के बारे में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी की राय बेहद अहम है। अब अनलॉक के दौर में जब जनजीवन तेजी से सामान्य हो रहा है तब हम सभी को ज्यादा सावधानी बरतने की जरूरत है।

Dakhal News

Dakhal News 8 October 2020


gwalior, Kamal Nath, was worried ,about chair and chest, Scindia

ग्वालियर। भाजपा के वरिष्ठ नेता और राज्यसभा सदस्य ज्योतिरादित्य सिंधिया गुरुवार को सुबह ग्वालियर पहुंचे। वे यहां ग्वालियर-चंबल अंचल के चार दिवसीय दौरे पर यहां आए हैं। इस दौरान उन्होंने कांग्रेस पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि मध्य प्रदेश के साथ कांग्रेस की सरकार ने गद्दारी की है। कमल नाथ को कुर्सी और तिजोरी की ही चिंता रही। जब उनसे ग्वालियर के कामों के लिए कहते थे तो वह साफ कह देते थे कि पैसा नहीं है, लेकिन आज पांच महीने की शिवराज सिंह चौहान सरकार ने हर ग्वालियर सहित प्रदेश के हर क्षेत्र के लिए योजनाएं दीं। पूरे क्षेत्र में विकास के कार्य फिर से चल पड़े हैं।   बता दें कि मप्र की 28 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव होने जा रहे हैं। इनमें अधिकांश सीटें ग्वालियर-चम्बल क्षेत्र की हैं। यहां भाजपा के स्टार प्रचार के तौर पर ज्योतिरादित्य सिंधिया चार दिनों तक जनसभाओं को संबोधित करेंगे। वे गुरुवार सुबह दिल्ली दिल्ली के ग्वालियर पहुंचे। यहां उनका कार्यकर्ताओं और समर्थकों द्वारा भव्य स्वागत किया गया। इस दौरान उन्होंने मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि कांग्रेस को आड़े हाथों लिया और शिवराज सरकार की तारीफ की। उन्होंने कहा कि कमलनाथ पर निशाना साधते हुए कहा कि कई लोग ऐसे होते हैं कि जिनके यहां कार्य ले जाओ तो संभव कार्य असंभव हो जाता है और कुछ लोग ऐसे होते हैं, जिनके पास असंभव काम ले जाओ तो वो भी संभव हो जाता है।   इसके बाद सिंधिया मुरैना के लिए रवाना हो गए। वे यहां कार्यकर्ताओं से मिलेंगे और मुरैना पोलिंग बूथ सम्मेलन में शामिल होकर चुनावी जनसभाओं को भी संबोधित करेंगे। वे चार दिन तक लगातार ग्वालियर-चम्बल क्षेत्र में पार्टी प्रत्याशियों के समर्थन में चुनाव प्रचार करेंगे।  

Dakhal News

Dakhal News 8 October 2020


indore,Congress anti-development, I work ,their stomach hurts, Shivraj

इंदौर। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने गुरुवार को पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग द्वारा बनायी गयीं 4 हजार 120 किलो मीटर लंबी 12 हजार 960 ग्रामीण सडक़ों का वर्चुअल कार्यक्रम में लोकार्पण किया। इस अवसर पर उन्होंने कांग्रेस में जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि कांग्रेस विकास विरोधी है। वे स्वयं काम करते नहीं हैं और मैं करता हूं, तो उनके पेट में दर्द होता है। वे कहते हैं कि हर कहीं शिवराज नारियल फोड़ देता है। मैं केवल नारियल नहीं फोड़ता बल्कि सडक़, पुल-पुलिया, बांध का निर्माण करवाता हूं। जहां चाह होती है, वहां राह को निकलना ही पड़ता है। गांव के विकास और जनकल्याण के कामों को रुकने नहीं दूंगा।     मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मध्यप्रदेश के चुनाव अप्रभावित 33 जिलों में 1,359 करोड़ रुपये की लागत से नवनिर्मित 4,120 किमी लंबी 12,960 ग्रामीण सडक़ों का ई-लोकार्पण कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि मेरे प्रिय ग्रामवासियों, आपको वचन देता हूँ, अगले तीन सालों में कोई भी गरीब नागरिक कच्चे मकान में नहीं रहेगा, सभी को पक्का मकान मिलेगा। कोविड-19 काल में भी हमने निर्माण कार्य जारी रखा और इतनी सडक़ें निर्मित की। इन सभी सडक़ों को मैं आप सभी ग्रामवासियों को समर्पित करता हूँ। जो गांव अभी छूट गए हैं, उन्हें भी सडक़ की सौगात दी जाएगी।   उन्होंने कहा कि जब मैं मुख्यमंत्री बना तो कोरोना का प्रकोप था। हमारी कर्मठता के चलते आज इसका संक्रमण पूरी तरह से नियंत्रण में है। हमें सावधानी बरतनी है। जब तक वैक्सीन नहीं आ जाती, तब तक मास्क ही वैक्सीन है। सावधानी में ही सुरक्षा है। कोरोना काल में गेहूँ का रिकॉर्ड उत्पादन हुआ। हमने भी तैयारी की और 129 लाख मीट्रिक टन गेहूँ उपार्जित कर पंजाब को पीछे छोड़ा और किसानों के खातों में 25 हजार करोड़ रुपये डाले।   मुख्यमंत्री ने कहा कि खेत सडक़ योजना के माध्यम से हम खेतों तक सडक़ों को पहुंचायेंगे, ताकि किसान अपने खेतों से उपज बेचने के लिए आसानी से बाजार तक पहुंचा सके। ऐसे प्रयासों से किसानों की आय दोगुनी होगी। प्रवासी मज़दूर जो वापस आ रहे थे, उन्हें मनरेगा के अंतर्गत रोजगार दिया। स्किल्ड लेबर्स के लिए रोजगार_सेतु बनाया। करीब 37 लाख गरीबों को पात्रता पर्ची बाँट कर उन्हें राशन उपलब्ध कराया। मैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी का अभिनंदन करता हूं कि उन्होंने कोरोना काल में गरीबों को नि:शुल्क अनाज प्रदाय की व्यवस्था करायी।   उन्होंने कहा कि चुनौती के इस समय हमारी सरकार ने भी गरीबों को एक रुपये किलो गेहूं, चावल और नमक देना प्रारम्भ कर दिया। जहां चाह होती है, वहां राह को निकलना ही पड़ता है। गांव के विकास और जनकल्याण के काम नहीं रुकेंगे। चुनौती कितनी भी बड़ी हो, हम उसके पार निकालकर प्रदेश को ले जायेंगे। कार्यक्रम में पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री महेन्द्र सिंह सिसौदिया तथा राज्यमंत्री रामखिलावन पटेल भी मौजूद रहे। मुख्यामंत्री ने लोकार्पण के दौरान कुछ जिलों के सरपंचों से संवाद भी किया।

Dakhal News

Dakhal News 8 October 2020


satna, CM pays tribute,martyr Dhirendra, announces, give one crore, honor fund

सतना। जम्मू-कश्मीर में दो दिन पहले हुए आतंकी हमले में शहीद हुए विंध्य के जवान धीरेंद्र त्रिपाठी का पार्थिव शरीर बुधवार को उनके पैतृक गांव पडिय़ा पहुंचा, जहां उन्हें अंतिम विदाई देने के लिए लोगों की भारी भीड़ उमड़ी। सभी भारत माता की जय, धीरेंद्र अमर रहे के जयकारे लगाते रहे। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी ग्राम पडिय़ा पहुंचकर शहीद धीरेन्द्र को श्रद्धांजलि अर्पित की। इस दौरान उन्होंने धीरेंद्र के परिवार को एक करोड़ रुपए की सम्मान निधि और इसके साथ ही शहीद की पत्नी को सरकारी नौकरी, गांव में शहीद के नाम से स्मारक बनवाने का ऐलान किया।    मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शहीद को श्रद्धांजलि देते हुए कहा कि सीआरपीएस के वीर जवान धीरेंद्र त्रिपाठी ने भारत माता की सुरक्षा करते हुए अपना सर्वोच्च बलिदान दिया। ऐसे अमर शहीद के चरणों में मैं मध्यप्रदेश की साढ़े सात करोड़ जनता की ओर से श्रद्धासुमन अर्पित करता हूँ। उनका परिवार अब हमारा और मध्यप्रदेश का परिवार है! भारत माता के सच्चे सपूत पर हम सभी प्रदेशवासियों को गर्व है। अमर शहीद धीरेंद्र त्रिपाठी हम सभी की स्मृतियों में जीवित रहें, इसके लिए हम चर्चा करके उनके नाम पर एक संस्थान का नाम भी रखेंगे। शहीद धीरेंद्र जी की पत्नी, मेरी बहन अब सिर्फ पडिय़ा की बेटी नहीं, पूरे मध्यप्रदेश की बेटी है। धीरेंद्र जी के नाम पर पडिय़ा के शासकीय विद्यालय का नामकरण किया जाएगा और उनके परिवार व ग्रामवासियों से चर्चा कर एक सडक़ का नामकरण भी उनके नाम पर किया जाएगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि परिवार की नियमानुसार हर तरह की मदद की जाएगी। उन्होंने कहा कि इस गांव की माटी आज धन्य हो गई है। जहां ऐसे वीर सपूत जन्म लिए।    बता दें कि बीते सोमवार को श्रीनगर में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़ में सीआरपीएफ के दो जवान शहीद हो गए थे। जिनमें एक धीरेंद्र त्रिपाठी एक थे। शहीद धीरेंद्र अपने माता-पिता के इकलौते पुत्र थे। उनके पिता रामकलेश त्रिपाठी भी सीआरपीएफ के जवान जो कि बालाघाट में पदस्थ हैं। शहीद को श्रद्धांजलि देने के लिए मंत्री, जनप्रतिनिधि, गणमान्य नागरिक और पुलिस, प्रशासन व सीआरपीएफ के वरिष्ठ अधिकारी शामिल हुए। इसमें मंत्री विश्वास सारंग, रामखेलावन पटेल, जनार्दन मिश्रा, राजेन्द्र शुक्ला, विधायक जुगल किशोर बागरी ने भी शहीद को श्रद्धासुमन अर्पित किए। भोपाल से आये सीआरपीएफ के आईजी पीके पांडे ने भी पुष्पांजलि अर्पित की।  

Dakhal News

Dakhal News 7 October 2020


bhopal, MP by-election, BJP declared candidates,all 28 seats

भोपाल। मध्यप्रदेश में विधानसभा की रिक्त 28 सीटों पर होने जा रहे उपचुनावों के लिए भाजपा ने एक साथ सभी सीटों पर अपने उम्मीदवारों के नामों की घोषणा कर दी है। मंगलवार देर रात जारी हुई उम्मीदवारों की सूची में पार्टी ने उन 25 पूर्व विधायकों को टिकट दिया है, जो कांग्रेस छोड़ भाजपा में आए थे और उन्होंने कांग्रेस की कमलनाथ सरकार गिराने में अहम भूमिका निभाई थी। वहीं, कांग्रेस की भी तीन सूची जारी हो चुकी है और अब तक वह 27 सीटों पर अपने उम्मीदवार घोषित कर चुकी है। अब केवल एक सीट पर उम्मीदवार का नाम घोषित होना शेष है। इसके अलावा बहुजन समाजवादी पार्टी (बसपा) भी 18 सीटों पर अपने उम्मीदवारों के नाम घोषित कर चुकी है।    भाजपा प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा ने मंगलवार देर रात ट्वीट पर उम्मीदवारों की सूची जारी की और सभी उम्मीदवारों को शुभकामनाएं दी। उन्होंने ट्वीट किया कि -‘मध्य प्रदेश में होने वाले आगामी विधानसभा उप-चुनाव 2020 के लिए सभी प्रत्याशियों को हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं।’ साथ ही उन्होंने उम्मीदवारों की सूची भी पोस्ट की है। इस सूची के अनुसार, पार्टी ने जौरा से सूबेदार सिंह रजौधा, सुमावरी से एदल सिंह कंसाना, मुरैना से रघुराज सिंह कंसाना, दिमनी से गिर्राज डण्डौतिया, अम्बाह से कमलेश जाटव, मेहगांव से ओपीएस भदौरिया, गोहद से रणवीर सिंह जाटव, ग्वालियर मध्य से प्रद्युम्न सिंह तोमर, ग्वालियर पूर्व से मुन्नालाल गोयल, डबरा से इमरती देवी सुमन, भांडेर से रक्षा संतराम सरोनिया और करेरा विधानसभा सीट से जसमंत जाटव छितरी को उम्मीदवार घोषित किया गया है।   इसी प्रकार पोहरी विधानसभा सीट से सुरेश धाकड़, बामोरी से महेन्द्र सिंह सिसोदिया, अशोकनगर से जजपाल सिंह जज्जी, मुंगावली से बृजेन्द्र सिंह यादव, सुरखी से गोविन्द सिंह राजपूत, मलेहरा से कुंवर प्रद्युम्न सिंह लोधी, अनूपपुर से बिसाहूलाल सिंह, सांची से डॉ. प्रभुराम चौधरी, ब्यावरा से नारायण सिंह पवार, आगरमालवा से मनोज ऊंटवाल, हाटपिपल्या से मनोज चौधरी, मंधाता से नारायण पटेल, नेपानगर से सुमित्रा देवी कास्डेकर, बदनावर से राजवर्धन सिंह दत्तीगांव, सांवेर से तुलसीराम सिलावट और सुवासरा से हरदीप सिंह डंग को टिकट दिया गया है।   वहीं, कांग्रेस तीन सूचियों में अब तक 27 उम्मीदवार घोषित कर चुकी है। इनमें दिमनी से रविन्द्र सिंह तोमर, भांडेर से फूलसिंह बरैया, अम्बाह से सत्यप्रकाश सिकरवार, गोहद से मेवाराम जाटव, अशोकनर से आशा दोहरे, आगरमालवा से विपिन वानखेड़े, सांवेर से प्रेमचंद्र गुड्डू, नेपानगर से रामसिंह पटेल, हाटपिपल्या से राजवीर सिंह बघेल, अनूपुर से विश्वनाथ सिंह, सांची से मदनलाल चौधरी, बमोरी से कन्हैयालाल अग्रवाल, करेरा से प्रागीलाल जाटव, डबरा से सुरेश राजा, ग्वालियर मध्य से सुनील शर्मा, जौरा से पंकज उपाध्याय, सुमावली से अजब कुशवाहा, ग्वालियर पूर्व से सतीश सिकरवार, पोहरी से हरिबल्लभ शुक्ला, मुंगावली से कन्हैयालाल लोधी, सुरखी से पारुल साहू, मांधाता से उत्तम राज सिंह, बदनावर से कमल पटेल, सुवासरा से राकेश पाटीदार, मुरैना से राकेश मवई, मेहगांव से हेमंत कटारे और मलेहरा से रामसिया त्रिपाठी शामिल हैं। व्याबरा सीट से अभी उम्मीदवार घोषित होना बाकी है।   प्रदेश में चुनावों के दौरान मुख्य मुकाबला भाजपा और कांग्रेस के बीच ही होता है, लेकिन उत्तरप्रदेश से लगे हिस्सों में बसपा और सपा का भी अच्छा प्रभाव देखने को मिलता है। सपा ने उपचुनाव में उम्मीदवार नहीं उतारे हैं, लेकिन बसपा ने 18 सीटों पर उम्मीदवारों के नाम घोषित कर दिये हैं। इनमें से कुछ सीटों पर त्रिकोणीय मुकाबला होने की संभावना है।

Dakhal News

Dakhal News 7 October 2020


bhopal, Narottam Mishra, slams Tanj, Nath and Diggi , discussing Congress

भोपाल। मध्य प्रदेश में विधानसभा उपचुनाव से पहले कांग्रेस सत्ता वापसी के लिए पूरा जोर लगा रही है। उपचुनाव में कांग्रेस किसानों को साधने में कोई कमी नहीं छोड़ रही है। वहीं अब किसानों तक कमलनाथ सरकार में किसान हित में किए गए कामों को उन तक पहुंचाने के लिए कांग्रेस किसानों के साथ खाट पर चर्चा करेगी। कांग्रेस की खाट पर चर्चा पर प्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने तंज कसा है।   गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने बुधवार को मीडिया से बातचीत करते हुए कांग्रेस की खाट पर चर्चा कार्यक्रम पर निशाना साधते हुए कहा कि इससे पहले उन्होंने उत्तरप्रदेश में भी खाट पर चर्चा की थी। उनकी न खाट रहेगी, न उनके ठाट रहेंगे। उन्होंने कहा कि खाट पर बोलते हैं और सदन में सोते हैं। इस  दौरान कमलनाथ के सरकारी भीड़ के बयान पर नरोत्तम मिश्रा ने तंज कसते हुए कहा कि कमलनाथ जी और दिग्विजय सिंह की वीडियो वायरल करने और ट्वीट करने उनकी यही उम्र है।   कमलनाथ की भूमिका "चैतुए" के समानइस दौरान मीडिया से बातचीत में गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कमलनाथ के चुनावी दौरे को लेकर उन पर बड़ा हमला बोलते हुए उन्हें चेतुए की संज्ञा दी। उन्होंने कहा कि प्रदेश की राजनीति में कमलनाथ की भूमिका "चैतुए" के समान है। जो सिर्फ चैत के महीने में ही फसल काटने के लिए गांव में नजऱ आता है। उसके बाद नहीं। इसी तरह कमलनाथ भी सिर्फ चुनाव के समय दिखाई देते फिर गायब हो जाते हैं।   दिग्विजय सिंह को बताया वोट कटुआउपचुनाव प्रचार में दिग्विजय सिंह की दूरी पर प्रतिक्रिया देते हुए मंत्री मिश्रा ने कहा कि उन्होंने कहा कि कांग्रेस नेता भी दिग्विजय सिंह जी को "वोट कटुआ" मानते हैं। यानी ऐसा नेता जिसे चुनाव प्रचार के लिए बुलाया तो वोट कट जाएंगे। कांग्रेस सरकार में मंत्री रहे उमंग सिंघार ने भी मुख्यमंत्री के रूप में कमलनाथ को मुखौटा और दिग्विजय सिंह को पर्दे के पीछे से सरकार चलाने वाला बताया था। कांग्रेस अपने बोझ से पहले भी गिरी थी अब फिर गिरेगी।   डॉ. गोविंद सिंह के बयान पर किया पलटवारडॉ. गोविंद सिंह के बयान पर ग्रह मंत्री डॉ नरोत्तम मिश्रा ने पलटवार करते हुए कहा कि कहावत है "मरुस्थल में गया था मैं देवदार ढूंढऩे, मेरा मित्र धतूरे में इत्र ढूंढऩे चला। मेरे मित्र गोविंद सिंह जी भी परिवारतंत्र वाली कांग्रेस में लोकतंत्र की तलाश कर कुछ ऐसा ही कर रहे हैं। मेरी सलाह है कि उन्हें इस मुद्दे पर पुनर्विचार करना चाहिए। जिस पार्टी की स्थापना विदेशी मूल के व्यक्ति ने की थी तो वो लोकतंत्र को खत्म करने के लिए की थी आज भी विदेशी मूल का व्यक्ति कबिज है। गलत जगह, गलत चीज़ बोल रहे है गोविंद सिंह। उन्होंने कहा कि कांग्रेस में परिवार वाद चल रहा है कांग्रेस में लोकतंत्र नही रहा, वहां लोकतंत्र नही मिलेगा।     

Dakhal News

Dakhal News 7 October 2020


bhopal, Madhya Pradesh by-election,Congress releases, third list, these names stamped

  भोपाल। मध्यप्रदेश विधानसभा उपचुनाव के लिए कांग्रेस ने मंगलवार शाम अपने प्रत्याशियों की तीसरी सूची जारी कर दी है। तीसरी सूची में चार प्रत्याशियों के नाम का ऐलान किया गया है। ये लिस्ट दिल्ली हाईकमान के चर्चा के बाद जारी की गई है।। आज तीसरी लिस्ट में 4 नामों का ऐलान हुआ है और अब सिर्फ ब्यावरा सीट पर प्रत्याशी का नाम घोषित होना बाकी है।   आज जारी तीसरी लिस्ट में मुरैना से राकेश मवई, मेहगांव से हेमंत कटारे, मलहरा से राम सिया भारती और बदनावर से कमल पटेल के नामों की घोषणा हुई है। बता दें कि धार जिले की बदनावर सीट पर होने वाले उपचुनाव के लिए कांग्रेस ने अपना प्रत्याशी बदल दिया है। युवा नेता डॉ. अभिषेक सिंह राठौर टिंकू बना की जगह ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष कमलसिंह पटेल को प्रत्याशी बनाया गया है।  

Dakhal News

Dakhal News 6 October 2020


bhopal, Kamal Nath ,expressed concern, about women

भोपाल। विधानसभा उपचुनाव से पहले कांग्रेस किसान समस्या के साथ ही अब महिला अपराधों को लेकर भी सरकार के खिलाफ उग्र हो गई है। पूर्व सीएम कमलनाथ ने प्रदेश में तेजी से बढ़ रहे महिला अपराधों को लेकर चिंता जताई है। उन्होंने ट्वीट कर सरकार पर निशाना साधा है और तंज कसते हुए पूछा है कि खुद को मामा कहलवाने वाले जिम्मेदार अब कहा गायब है।   पूर्व सीएम ने बढ़ते महिला अपराधों पर सरकार का घेराव करते हुए ट्वीट कर लिखा है कि 'प्रदेश में बहन-बेटियों पर अत्याचार व दुष्कर्म की घटनाएं प्रतिदिन सामने आकर कानून व्यवस्था को खुली चुनौती दे रही है? अब प्रदेश के रीवा और होशंगाबाद के पिपरिया में गैंगरेप की घटनाएं घटित हुई है। कहां है जिम्मेदार, कहां ग़ायब है खुद को बहन-बेटियों का मामा कहलवाने वाले? आखिर कब प्रदेश में बहन-बेटियां ख़ुद को सुरक्षित महसूस कर सकेगी।   कुणाल चौधरी ने किसान मुद्दे पर घेरावहीं दूसरी ओर कांग्रेस विधायक और युवक कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कुणाल चौधरी ने भी प्रेस कॉन्फ्रेंस कर शिवराज सरकार को घेरा है। कुणाल ने कहा है कि 'किसान हितैषी सरकार का दावा करने वाली भाजपा सरकार के राज में किसान परेशान हो रहे हैं। उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा है कि व्यापारी, किसानों से सोयाबीन एमएसपी से कम कीमत पर खरीद रहे हैं। मंडियों में हड़ताल के चलते किसान सोयाबीन नहीं बेच पा रहे हैं। बिचौलिए फायदा उठा रहे हैं, औने-पौने दामों पर किसानों से सोयाबीन खरीदी जा रही है। 3 हजार से नीचे कीमत पर किसानों का सोयाबीन खरीद रहे हैं व्यापारी।  

Dakhal News

Dakhal News 6 October 2020


bhopal,BJP MLA, wrote to CM, demanding ban, web series

भोपाल। मध्य प्रदेश में विधानसभा उपचुनाव को लेकर जारी घमासान के बीच मंदसौर से वरिष्ठ भाजपा विधायक यशपाल सिंह सिसोदिया ने एक नया मुद्दा उठाया है। उन्होंने सीएम से वेब सीरीज दिखाए जाने पर प्रतिबंध लगाने की मांग की है। इसके लिए उन्होंने सीएम शिवराज को पत्र भी लिखा है। विधायक सिसोदिया का कहना है कि वेब सीरीज पर दिखाए जा रहे अश्लील, गाली-गलौज और आपराधिक प्रवृत्ति को बढ़ावा देने वाले है, इसलिए इन पर प्रतिबंध लगना चाहिए। उन्होंने इस मामले में सीएम से सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय से बात किए जाने की भी अपील की है।   भाजपा विधायक यशपाल सिंह सिसोदिया ने कहा कि जिस तरह से नेटफ्लिक्स, अमेजऩ प्राइम और हॉटस्टार पर दिखाई जा रही वेब सीरीज को भारतीय संस्कृति के खिलाफ बताया है। साथ ही उन्होंने कहा है कि इस तरह की अश्लील वेब सीरीज दिखाए जाने से युवाओं और बच्चों पर बुरा प्रभाव पड़ रहा है। अगर समय रहते इस तरह के वेब सीरीज पर रोक नहीं लगाया गया तो आने वाली पीढिय़ों पर भी इसका असर पड़ेगा। साथ ही उनके अंदर बड़ों के प्रति सम्मान की भावना भी खत्म हो जाएगी। इन सीरीज में अश्लीलता इतनी ज्यादा है कि युवा सही और गलत में फर्क करना भी भूल जा रहे हैं। हालांकि, विधायक यशपाल सिंह सिसोदिया के इस पत्र पर अभी तक सीएम शिवराज सिंह चौहान  की तरफ से कोई जवाब नहीं आया है। अब देखना है कि सीएम शिवराज भाजपा विधायक के पत्र का क्या जवाब देते हैं।   गौरतलब है कि कोरोना महामारी के चलते लॉकडाउन के बाद नेटफ्लिक्स, अमेजऩ प्राइम और हॉटस्टार पर फिल्में और वेब सीरील रीलीज करने का प्रचलन बढ़ गया है। एक वर्ग द्वारा इसे खास तौर से पसंद किया जा रहा है वहीं दूसरी ओर कई लोग इसका विरोध भी कर रहे हैं।

Dakhal News

Dakhal News 6 October 2020


bhopal, Fraudulent companies ,mafia will not , spared, CM

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रदेश में किसी भी प्रकार के माफिया और जनता के साथ धोखाधड़ी करने वाली चिटफंड कम्पनियों के विरूद्ध सख्त कार्यवाही के निर्देश दिये हैं। उन्होंने कहा है कि मध्यप्रदेश की जनता के साथ धोखाधड़ी बर्दाश्त नहीं की जाएगी। धोखाधड़ी करने वाली चिटफंड कम्पनियों को जड़ से उखाड़ा जाएगा और उनके विरूद्ध कड़ी कानूनी कार्यवाही भी की जाएगी, जिससे धोखाधड़ी करने वालों के मन में खौफ पैदा हो और प्रदेश की जनता धोखाधड़ी से बच सके।   प्रदेश की जनता के साथ धोखाधड़ी करने वालों के विरुद्ध चलाये जा रहे अभियान में सांई प्रसाद प्रायवेट लिमिटेड कम्पनी की प्रदेशभर में 90 अचल सम्पत्तियां कुर्क की गई हैं। सीहोर जिले में लगभग 130 निवेशकों के करीब साढ़े तीन करोड़ रुपये की राशि उक्त कम्पनी में फंसे होने से कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी सीहोर द्वारा सोमवार को सांई प्रसाद प्रायवेट लिमिटेड कम्पनी के विरूद्ध सम्पत्ति कुर्की का आदेश जारी किया गया है।   जनसम्पर्क अधिकारी राजेश पाण्डेय ने सोमवार को इसकी जानकारी देते हुए बताया कि सीहोर जिले के पुलिस थाना गोपालपुर के अपराध क्रमांक 17/2020 और थाना कोतवाली सीहोर में दर्ज अपराध क्रमांक 664/2016 के तहत पुलिस अधीक्षक सीहोर द्वारा जिला कलेक्टर को प्रतिवेदन प्रस्तुत कर सांई प्रसाद प्रायवेट लिमिटेड कम्पनी में निवेशकों की राशि फंसे होने की सूचना दी गई। निवेशकों के धन वापसी एवं सुरक्षा की कोई व्यवस्था न होने से तीन अनावेदकों बालासाहब भापकर निवासी चिंचवाड पुणे, धर्मेन्द्र खाती निवासी सुनेड और समर सिंह मीणा निवासी गुलरपुरा नसरूल्लागंज की अचल सम्पत्ति कुर्क किये जाने की कार्यवाही के लिये लिखा गया।   सीहोर कलेक्टर अजय गुप्ता द्वारा पुलिस अधीक्षक के प्रतिवेदन पर न्यायालयीन आदेश पारित करते हुए सांई प्रसाद प्रायवेट लिमिटेड कम्पनी के डायरेक्टर बाला साहब भापकर की मध्यप्रदेश के 11 जिलों में स्थित 90 सम्पत्तियों को राजसात कर कुर्क किये जाने के अंत कालिक आदेश पारित किया गया है। बाला साहब भापकर की जो सम्पत्तियां कुर्क की गई है, उसमें बालाघाट, ग्वालियर, बीना (सागर), सीहोर, हरदा और विदिशा जिले में एक-एक, आगर-मालवा जिले में 45, खरगौन जिले में 28, उज्जैन जिले में 5, भोपाल जिले में 4 और इंदौर जिले में 2 अचल सम्पत्तियां कुर्क की गई है।     एक अन्य आदेश में सीहोर कलेक्टर ने धर्मेन्द्र खाती निवासी सुनेड की ग्राम सुनेड में भूमि सर्वे नम्बर 106/2/1/1क, 108, 109 रकबा 1.274 हेक्टेयर, एक अल्टो कार और एक टीवीएस जुपीटर स्कूटी कुर्क करने के आदेश पारित किये हैं। इसके साथ ही अमर सिंह मीणा निवासी गुलरपुरा नसरूल्लागंज की ग्राम गुलरपुरा में भूमि सर्वे नम्बर 2/2/1/3,16/1/2 रकबा 2.366 हेक्टेयर भूमि, ग्राम गुलरपुरा में 30 बाय 30 वर्गफीट में अधपक्का ईट-कबेलू का मकान और ग्राम नसरूल्लागंज में एक पक्का मकान कुर्क करने का आदेश पारित किया है।

Dakhal News

Dakhal News 5 October 2020


 bhopal,I have never ,been lured,post, I am worried, about the future ,state, Kamal Nath

भोपाल। मुझे कभी पद का लालच नहीं रहा, मुझे मध्यप्रदेश के भविष्य की चिंता थी। मैं प्रदेश के नागरिकों को ऐसा प्रदेश नहीं सौंपना चाहता था, जिसमें सौदेबाजी की राजनीति हो इसलिए मैंने अपनी सरकार बचाने व टिकाने के लिए कोई सौदा नहीं किया। भाजपा ने प्रदेश में लोकतंत्र के खिलवाड़ के साथ-साथ ऐसी बिकाऊ राजनीति का खेल खेला कि उनके राज में पंचायत चुनाव की आवश्यकता भी नहीं, बोली बोलो और सरपंच बना लो। उक्त संबोधन सोमवार को दतिया जिले के भांडेर में कांग्रेस प्रत्याशी फूल सिंह बरैया के समर्थन में आयोजित जनसभा में देते हुए पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कही। सभा को संबोधित उन्होंने कहा कि चुनाव तो 3 नवंबर को समाप्त हो जाएंगे, 1 नवंबर को झंडे-बैनर-पोस्टर भी उतर जाएंगे लेकिन प्रदेश का किसान यही रहेगा, युवा यही रहेगा। अब आप लोगों को यह तय करना है कि आप किसके हाथ में अब प्रदेश का भविष्य सौंपना चाहते हैं, कैसे प्रदेश का निर्माण आप करना चाहते हैं? यह फैसला अब आपके हाथ में है। आप भले कांग्रेस का साथ ना दें, कमलनाथ का साथ ना दे लेकिन सच्चाई का साथ जरूर दे।   इस अवसर पर सभा को संबोधित करते हुए कमलनाथ ने कहा कि कांग्रेस की संस्कृति विश्वास की, जोडऩे की संस्कृति है। हम दिलों को जोड़ते हैं, संबंध जोड़ते हैं, रिश्ता जोड़ते हैं, जाति-धर्म को जोड़ते हैं। पूरे विश्व में भारत देश ही ऐसा देश है जिसमें इतनी अनेकता है, इतनी संस्कृति है, इतनी भाषाएं, इतनी जाति, इतने धर्म है और यही कांग्रेस की संस्कृति है सबको जोडऩे की। उन्होंने कहा कि 15 साल बाद प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनी थी। भाजपा ने मुझे ऐसा प्रदेश सौंपा, जिसमें कई चुनौतियां थी। हमारा प्रदेश किसानों की आत्महत्या से लेकर महिलाओं पर अत्याचार, बेरोजगारी, भ्रष्टाचार में देश में नंबर वन पर था। हमारे सामने कई चुनौतियां थी लेकिन इन 15 माह में अपने अपनी नीति और नियत का परिचय दिया। हमने 27 लाख किसानों का कर्ज माफ किया और हमारी सरकार आने पर हम बचे किसानों का भी कर्ज माफ करेंगे।हमारा खजाना खाली था लेकिन फिर भी हमने अपना वचन पूरा किया। मैं कमलनाथ हूँ , शिवराज नहीं। शिवराज जी की 15 साल की झूठी घोषणाओं की वास्तविकता सभी जानते हैं। उनकी हज़ारों घोषणाए आज भी अधूरी है।   भाजपा पर निशाना साधते हुए कमलनाथ ने कहा कि इन्हें जनता पर विश्वास नहीं है, यह प्रशासन के माध्यम से चुनाव लडऩा चाहते हैं। मैं प्रशासन को आगाह करना चाहता हूं कि यदि आप भाजपा का बिल्ला जेब में लेकर काम करेंगे तो एक माह बाद जनता को गवाह बनाकर आपसे हिसाब जरूर लूंगा। इस अवसर पर भारतीय न्याय पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष सीताराम पाल ने अपनी पूरी पार्टी के कांग्रेस में विलय की घोषणा की, कमलनाथ ने फूल मालाओं से उनका स्वागत किया। भाजपा छोडक़र कई लोगों ने कांग्रेस में प्रवेश लिया, उनका भी कमलनाथ जी ने फूल मालाओं से स्वागत किया।

Dakhal News

Dakhal News 5 October 2020


bhopal, Narottam Mishra, statement, list of BJP candidates

भोपाल। मध्य प्रदेश में 28 सीटों पर होने वाले विधानसभा उपचुनाव के लिए राजनीतिक दलों की तैयारियों जोरों पर है। कांग्रेस ने चार सीटों को छोडक़र बाकि सभी सीटों पर प्रत्याशियों की घोषणा कर दी है। वहीं भाजपा की तरफ से अभी तक सूची का इंतजार है। दिल्ली में बैठकों का दौर जारी है और प्रत्याशियों को लेकर मंथन चल रहा है। वहीं भाजपा प्रत्याशियों की सूची को लेकर हो रही देरी पर प्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने बड़ा बयान दिया है।   गृहमंत्री डॉ नरोत्तम मिश्रा ने सोमवार को मीडिया से चर्चा करते हुए कहा कि भाजपा के प्रत्याशी लगभग घोषित हैं, सूची में कोई देरी नहीं है। उन्होंने कहा कि हमारा संकल्प प्रदेश का विकास, किसान विकास, रोजगार देने का है, संकल्प है यह हमारा और हम लगातार इसे पूरा करते रहेंगे। इस दौरान कांग्रेस पर निशाना साधते हुए मंत्री मिश्रा ने कहा कि कांग्रेस हर चुनाव में झूठ बोलती है, घर घर जाकर झूठ बोलेंगें। कांग्रेस को अपना काम लेकर जनता के बीच जाना चाहिए, हमारी बुराई करने से कोई फायदा नहीं है।   भांडेर में कमलनाथ का किया स्वागतकमलनाथ के भाण्डेर दौरे पर जाने पर मंत्री मिश्रा ने कहा कि उनका स्वागत है, चुनावी कार्यक्रमों के दौरान जो शासन प्रशासन और हाईकोर्ट का निर्णय है सबको मानना होगा।   कांग्रेस के मौन प्रदर्शन पर कसा तंजइस दौरान उन्होंने कांग्रेस के मौन प्रदर्शन पर तंज कसते हुए कहा कि कांग्रेस अपने कार्यकाल मैं बढ़े दुष्कर्म की रिपोर्ट पर धरने प्रदर्शन कर रही है, चिल्ला-चिल्लाकर झूठ बोल रहे हैं। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के नेताओं को भाजपा को कोसने के बजाय अपने 15 महीने के सरकार के कामकाज की बात करनी चाहिए। जनता को बताना चाहिए कि वे पिछले चुनाव में किए गए वादे क्यों नहीं पूरे कर पाए। अब उपचुनाव सामने आने पर संकल्प पत्र के नाम पर फिर से वही वादे दोहरा रहे हैं। जनता उनकी असलियत जान चुकी है।बिसाहुलाल को बदनाम कर रही कांग्रेसबिसाहुलाल के वायरल हो रहे पोस्ट पर गृहमंत्री ने कहा कि यह सब कांग्रेस के द्वारा फैलाया जा रहा है, फेक न्यूज़ है। भाजपा सरकार के मंत्री बिसाहूलाल सिंह जी को बदनाम करने के लिए कांग्रेस फेक फोटो का सहारा ले रही है। इससे साबित होता है कि उसमें चुनाव मैदान में सीधा सामने करने की हिम्मत नहीं है। तभी वो पीठ पीछे साजिश कर रही है जबकि बिसाहूलाल जी बहुत अनुभवी और वरिष्ठ नेता हैं।

Dakhal News

Dakhal News 5 October 2020


bhopal, Kamal Nath ,hit back , Shivraj, people reside?

भोपाल। विधानसभा की रिक्त 28 सीटों पर होने जा रहे उपचुनाव को प्रदेश की दोनों प्रमुख पार्टियों के नेताओं के बीच आरोप-प्रत्यारोप का दौर जारी है। इसी क्रम में अब पूर्व सीएम एवं प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमनलाथ और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के बीच ट्विटर वार शुरू हो गया है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट के माध्यम से कहा है कि कमलनाथ जी, हमें जनता का निर्णय शिरोधार्य होगा। इस पर पूर्व सीएम कमलनाथ ने पलटवार करते हुए ट्वीट के माध्यम से ही शिवराज सिंह चौहान को जवाब दिया है। उन्होंने कहा है कि जनता का निर्णय कहां शिरोधार्य हुआ है?   प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने सिलसिलेवार ट्वीट करते हुए कहा कि -‘शिवराज जी, जनता ने तो प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनाने का निर्णय लिया था, लेकिन आपको जनता का निर्णय कहां शिरोधार्य हुआ? सौदेबाजी से लोकतंत्र की हत्या कर, जनादेश का अपमान कर हमारी सरकार बीच में ही गिरा दी गयी।’ उन्होंने अगले ट्वीट में लिखा है कि -‘ इन 15 माह में हमने इन सब कामों के साथ ही प्रदेश की पहचान बदलने का काम भी किया। आपकी सरकार में प्रदेश के माथे पर लगे महिलाओं में अत्याचार में नंबर वन, किसानों की आत्महत्याओं में नंबर वन, बेरोजगारी में नंबर वन, भ्रष्टाचार में नंबर वन, मजदूरों के उत्पादन में नंबर वन, युवाओं की रोजगार के अभाव में आत्महत्या में नंबर वन। हमने तो प्रदेश के दाग को धोने का काम भी किया। प्रदेश की जनता इस सच्चाई को जानती है और उस जनता का अगला निर्णय भी हमें शिरोधार्य होगा।’   दरअसल, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी शनिवार को ही ट्वीट के माध्यम से कमलनाथ पर निशाना साधा था। उन्होंने लिखा था कि -‘ कमलनाथ जी, आप के झूठे वादों से डिफाल्टर बन चुके किसानों को राहत दूं? फसल खरीदूं? फसल बीमे से नुकसान का भुगतान करूं? छात्रों को प्रोत्साहन दूं? बेटियों का कन्यादान करूं? स्ट्रीट वेंडर्ज को ऋण दूं या फिल्मी सितारों का मजमा लगा कर तमाशा रचाऊं?’ उन्होंने दूसरे ट्वीट में कहा है कि -‘हमें ना तो ‘तमाशों’ की राजनीति आती है ना ही ‘तमाचों’ की। हमें तो सिर्फ जनता की सेवा की नीति आती है। हे ईश्वर! मुझे तुम इतनी शक्ति देना की हर तरह से में मध्यप्रदेश की सेवा कर पाऊं। कमलनाथ जी, हमें जनता का निर्णय शिरोधार्य होगा।’

Dakhal News

Dakhal News 3 October 2020


bhopal,Durga statues, will not have, 6-feet height ban,Shivraj

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि दुर्गा उत्सव में स्थापित की जाने वाली दुर्गा प्रतिमाओं पर 6 फीट ऊंचाई का प्रतिबंध नहीं रहेगा, इसके लिए लगने वाले पंडालों का अधिकतम आकार 30 X 45 फीट होगा, चल समारोह की अनुमति नहीं होगी तथा आयोजन समिति के अधिकतम 10 व्यक्ति दुर्गा प्रतिमाओं का विसर्जन कर सकेंगे। उन्‍होंने कहा कि दुर्गा उत्सव पर गरबा करने की अनुमति नहीं होगी।    मुख्यमंत्री ने शनिवार को मंत्रालय में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से प्रदेश में कोरोना की स्थिति एवं व्यवस्थाओं की समीक्षा की। उन्‍होंने बताया कि दशहरा उत्सव पर रामलीला एवं रावण दहन किया जा सकेगा, परंतु सभी आयोजनों में मास्क लगाना तथा सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना पूरी तरह अनिवार्य रहेगा। बताया गया कि ऐसी झांकियां नहीं बनाई जा सकेंगी, जिनमें किसी भी तरह से सोशल डिस्टेंसिंग का उल्लंघन हो। बैठक में चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग, मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस, डी.जी.पी. विवेक जौहरी, अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य मोहम्मद सुलेमान, आयुक्त जनसंपर्क सुदाम खाड़े उपस्थित रहे।   त्यौहारों एवं सर्दियों के लिए करें 'एडवांस प्लानिंग' मुख्यमंत्री चौहान ने निर्देश दिए कि आगामी त्योहारों एवं सर्दी के समय कोरोना संक्रमण अधिक फैल सकता है, अत: इसके लिए 'एडवांस प्लानिंग' कर लें। मास्क लगाने, सोशल डिस्टेंसिंग आदि सावधानियों का पूरा पालन सुनिश्चित किए जाने के साथ ही प्रदेश की स्वास्थ्य अधोसंरचना एवं स्वास्थ्य सुविधाओं का भी विस्तार किया जाए।   एक्टिव मरीजों की संख्या 20 हजार से नीचे प्रदेश में कोरोना के एक्टिव मरीजों की संख्या 20 हजार से नीचे 19807 हो गई है। इसका कारण नए प्रकरणों की संख्या के अनुपात में स्वस्थ होने वाले मरीजों की संख्या निरंतर बढ़ रही है। प्रदेश में गत दिवस 1811 नए प्रकरण मिले हैं, जबकि 2101 स्वस्थ होकर घर गए हैं। एक्टिव मरीजों की संख्या में1 दिन में 317 की कमी आई है।   रिकवरी रेट 83.4 प्रतिशत प्रदेश की रिकवरी रेट निरंतर बढ़ रही है। अब यह 83.4 प्रतिशत हो गई है। वहीं प्रदेश की मृत्यु दर निरंतर कम हो रही है, अब यह 1.79 प्रतिशत हो गई है। पॉजिटिविटी रेट 6.32 तथा टैस्ट प्रति दस लाख 26 हजार 548 हैं।   सर्वश्रेष्ठ कार्य करने वालों को सम्मानित करेंगे मुख्यमंत्री चौहान ने निर्देश दिए कि जिन जिलों में कोरोना संबंधी सर्वश्रेष्ठ कार्य हुआ है वहां के कलेक्टर्स, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी आदि को सम्मानित किया जाएगा। समीक्षा में बुरहानपुर जिले का कार्य श्रेष्ठ पाया गया है। बुरहानपुर में 3 नए प्रकरण पाए गए है तथा यहां की ग्रोथ रेट 0.42 प्रतिशत है। वहां कुल 718 पॉजीटिव प्रकरणों में से 667 स्वस्थ हो गए हैं। आगर-मालवा, भिंड, खंडवा आदि जिलों में भी बेहतर कार्य हुआ है।   होशंगाबाद एवं सिंगरौली विशेष ध्यान दें समीक्षा में पाया गया कि होशंगाबाद एवं सिंगरौली जिलों की तुलनात्मक रूप से पॉजीटिविटी एवं ग्रोथ रेट अधिक है। होशंगाबाद की पॉजिटिविटी रेट 17.13 प्रतिशत है तथा ग्रोथ रेट 3.98 प्रतिशत है। सिंगरौली की पॉजजिटिविटी रेट 6.14 प्रतिशत तथा ग्रोथ रेट 2.90 प्रतिशत है। दोनों जिलों में कलेक्टर्स को विशेष ध्यान देने के निर्देश दिए गए।   भोपाल की ग्रोथ रेट 1.42 प्रतिशत जिलावार समीक्षा में पाया गया कि प्रदेश के सभी जिलों में कोरोना नियंत्रण की स्थिति बेहतर हो रही है। सर्वाधिक कोरोना प्रकरणों वाले 10 जिलों में इंदौर की कोरोना ग्रोथ रेट 2.02 प्रतिशत, भोपाल की 1.42 प्रतिशत, जबलपुर की 1.92 प्रतिशत, ग्वालियर की 0.95 प्रतिशत, होशंगाबाद की 3.98 प्रतिशत, नरसिंहपुर की 2.12 प्रतिशत, सागर की 1.85 प्रतिशत, शिवपुरी की 1.37 प्रतिशत, सीहोर की 1.73 प्रतिशत तथा सीधी की 2.81 प्रतिशत है।

Dakhal News

Dakhal News 3 October 2020


bhopal, Kamal Nath ,lashed out , government protecting women

भोपाल। उत्तर प्रदेश के हाथरस के बाद मध्यप्रदेश के खरगोन में गैंगरेप की वारदात ने लोगों के दिलों को दहला दिया है। इन घटनाओं के बाद से कानून व्यवस्था कठघरे में आ गई है। राजनीतिक दल भी महिला सुरक्षा और कानून व्यवस्था पर जमकर राजनीति चमका रहे हैं। मप्र में चुनावी सीजन के बीच कांग्रेस को सरकार को घेरने का मौका मिल गया है। कांग्रेस सवाल उठा रही है कि आखिर कब बेटियों के साथ दरिंदगी की वारदातें रुकेगी।   मप्र के पूर्व सीमए और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने एक बार फिर प्रदेश की कानून व्यवस्था को लेकर सरकार पर निशाना साधा है। उन्होंने शनिवार को अपने बयान में भाजपा पर तंज कसते हुए कहा एक तरफ भाजपा बेटी बचाओ- बेटी पढ़ाओ का नारा बढ़ चढ़ कर देती है, दूसरी तरफ भाजपा शासित राज्यों में ही आज बेटियाँ सबसे ज़्यादा असुरक्षित है। उन्होंने कहा कि यूपी के हाथरस की घटना हो या मध्यप्रदेश के खरगोन, सतना, जबलपुर व नरसिंहपुर की घटना हो, आज बहन- बेटियाँ सबसे ज़्यादा असुरक्षित है। देश में, प्रदेश में क़ानून व्यवस्था की स्थिति चौपट हो चुकी है। आज हमारी बहन- बेटियाँ ना घर ना बाहर, ना दिन ना रात कही भी, कभी भी सुरक्षित नहीं है।   सीएम शिवराज पर तंज कसते हुए कमलनाथ ने कहा कि बड़ी शर्म आती है, जब वो जिम्मेदार जो विपक्ष में छोटी सी घटना पर खूब धरने देते थे, खूब भाषण देते थे, मासूम बच्चियों को धरने पर साथ में बैठाकर खूब विरोध प्रदर्शन करते थे, आज वो गायब है, मौन है? बहन- बेटियों की सुरक्षा को लेकर कोई कदम नहीं उठाये जा रहे है। पीडि़त परिवारों को न्याय नहीं मिल रहा है, उनकी थानों में सुनवाई तक नहीं हो रही है, उनकी रिपोर्ट तक दर्ज नहीं की जा रही है, उल्टा उन्हें ही प्रताडि़त किया जा रहा है। शिवराज सरकार में अपराधियों के हौसले बुलंद हो चले है।   कमलनाथ ने कहा कि इन घटनाओं के विरोध में, हमारी बहन- बेटियों की सुरक्षा की माँग को लेकर, उन्हें न्याय दिलाने की माँग को लेकर, नींद में सोई शिवराज सरकार व योगी सरकार को जगाने की माँग को लेकर कांग्रेसजन पूरे मध्यप्रदेश में, सभी जिला मुख्यालयों पर 5 अक्टूबर, सोमवार को गांधी प्रतिमा - बाबा साहेब आम्बेडकर की प्रतिमा के समक्ष मौन धरना देंगे।

Dakhal News

Dakhal News 3 October 2020


bhopal,CM Shivraj ,retaliated ,Phool Singh Baraiya, statement, Congress surrounded IIFA

भोपाल। विधानसभा उपचुनाव से पहले राजनेताओं में बयानबाजी तेज हो गई है। इस दौरान कई बार राजनेता मर्यादाओं को तोड़ कर आपत्तिजनक भाषण तक दे रहे हैं। भांडेर से कांग्रेस के प्रत्याशी फूल सिंह बरैया ने एक और विवादित बयान दिया है। उनके बयान ने मप्र की सियासत में खलबली मचा दी है। एक ओर जहां बरैया के बयान ने कांग्रेस के लिए मुसीबत खड़ी कर दी है, वहीं दूसरी ओर भाजपा आक्रामक हो गई है और भाजपा नेताओं के सूर तेज हो गए हैं। मप्र के सीएम शिवराज सिंह चौहान ने भी बरैया के बयान पर पलटवार करते हुए उन्हें करारा जवाब दिया है।   गांधी जयंती के अवसर पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने राजधानी भोपाल स्थित गांधी भवन पहुंचकर गांधी प्रतिमा पर माल्यार्पण किया। गांधी भवन पहुंचे मुख्यमंत्री शिवराज ने मीडिया से चर्चा कर कहा कि आज बापूजी का जन्मदिन है। हमारे विचारों में किसी के प्रति घृणा नहीं होनी चाहिए बल्कि घृणा की भावना भी आना पाप है। भगवान ने जिनको बनाया है वह सब समान है सभी को न्याय मिलना चाहिए तथा सब को आगे बढऩे का समान अवसर भी मिलना चाहिए।   इस अवसर पर मुख्यमंत्री शिवराज ने आइफा अवार्ड को लेकर कहा कि आइफा जैसे तमाशे को मैं पसंद नही करता हूं। कोरोना संकट काल में आइफा तर्कसंगत ही नही है। अभी आइफा की क्या जरूरत है इस समय कोरोना फैला हुआ है लोग संकट में है। मुख्यमंत्री शिवराज ने कांग्रेस पर प्रहार करते हुए कहा कि मुझे पता चला कि कई उद्योगपतियों से आईफा के नाम पर करोड़ो रुपए की राशि वसूली गई है। मुख्यमंत्री ने कहा कि यह सब ठीक नहीं है अगर राशि लेनी ही है तो कोरोना के लिए लेनी चाहिए थी।

Dakhal News

Dakhal News 2 October 2020


datia, Controversial speech, Congress candidate ,Phool Singh Baraiya, told outsiders

दतिया। मध्यप्रदेश में विधानसभा की रिक्त 28 सीटों पर होने जा रहे उपचुनाव को लेकर राजनीतिक सरगर्मियां चरम पर हैं और राज्य की दोनों प्रमुख पार्टियों भाजपा-कांग्रेस के नेताओं के बीच आरोप-प्रत्यारोप का दौर जारी है। इसी बीच भांडेर विधानसभा सीट से कांग्रेस उम्मीदवार फूल सिंह बरैया का एक विवादित बयान सामने आया है। उन्होंने सवर्णों को बाहरी बताते हुए हिन्दुओं पर जमकर निशाना साधा। इतना ही नहीं, महिलाओं को लेकर भी उन्होंने अपशब्दों का इस्तेमाल किया। अब यह वीडियो सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहा है। इसे लेकर भाजपा ने कांग्रेस पर निशाना साधा है।   दरअसल, शुक्रवार को सोशल मीडिया पर यह वीडियो वायरल हुआ, जिसमें एक सार्वजनिक सभा को संबोधित करते हुए कांग्रेस उम्मीदवार फूल सिंह बरैया कह रहे हैं कि अभी भी वक्त है कि अनुसूचित जाति वर्ग के लोगों को जाग जाना चाहिए, वरना सवर्ण देश को हिंदू राष्ट्र बना देंगे। उन्होंने कहा कि मुसलमानों से भारत छोडऩे की बात करने वाले सवर्णों को पहले खुद देश छोडऩा चाहिए, क्योंकि वह मुसलमानों के बाद भारत आए हैं। इतना ही नहीं उन्होंने यह भी कहा कि हम अनुसूचित जाति के लोग और मुसलमान एक ही पिता की संतान हैं, चाहे तो डीएनए टेस्ट करा लिया जाए। उन्होंने लोगों से एकजुट होने की अपील करते हुए कहा यदि हम एक हो गए तो वे 15 और हम 85 हैं। मुकाबला नहीं कर पाएंगे। उन्होंने ब्रिटेन के पूर्व प्रधानमंत्री विंस्टन चर्चिल के एक भाषण का उदाहरण देते हुए बताया कि एक बार जब हिंदुओं ने अंग्रेजों से भारत छोडऩे की मांग की तो चर्चिल ने कहा कि अगर भारत के मूल निवासी इस बात मांग करेंगे तो विचार किया जाएगा।   यह वीडियो गुरुवार को भांडेर क्षेत्र में हुई एक जनसभा का है, जिसमें कांग्रेस उम्मीदवार बरैया ने हिन्दुओं, खासकर सवर्णों के खिलाफ जमकर आग उगली। उन्होंने यहां तक कहा कि सवर्ण वर्ग के लोगों का कुत्ता अगर अनुसूचित जाति के लोगों को छू लेता है तो वे उस कुत्ते को अनुसूचित जाति के घर बांध आते हैं। इसलिए अनुसूचित जाति के लोगों को भी सवर्णों के घर जाकर उनकी महिलाओं को लड्डू खिलाने चाहिए, जिससे वह भी अस्पृश्य हो जाएं और फिर सवर्ण वर्ग के लोग उन्हें अनुसूचित जाति के घर के लोगों के घर छोड़ आएं। इस तरह अनुसूचित जाति के लोगों की दो-दो पत्नियां हो जाएंगी। शुक्रवार को यह वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद राजनीतिक गलियारों में हडक़म्प मच गया है। 

Dakhal News

Dakhal News 2 October 2020


bhopal, Narottam taunted,Congress promissory note, Congress asks,votes by lying

भोपाल। मध्य प्रदेश में होने वाले विधानसभा उपचुनाव से पहले कांग्रेस ने 28 सीटों पर जनता को साधने के लिए अपना मेनिफेस्टो जारी कर दिया है। यह वचन पत्र सिर्फ 28 सीटों के लिए है। कांग्रेस के वचन पत्र पर मप्र के गृह एवं जेल मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने तंज कसा है। उन्होंने कांग्रेस के वचन पत्र को कपट पत्र बताते हुए कांग्रेस पर जनता से झूठे वादे करने का आरोप भी लगाया है।   गृह मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने शुक्रवार को मीडिया से बातचीत करते हुए कांग्रेस के 28 सीटों में जारी वचन पर निशाना साधते हुए कहा कि वचन पत्र नही कांग्रेस ने कपट पत्र जारी किया है। झूठे वचन पत्र जारी करके कांग्रेस वोट मांगती है। वहीं कमलनाथ द्वारा जनसभा में यह सवाल पूछे जाने पर कि मेरी सरकार क्यों गिराई मेरी गलती क्या है। इस पर उन्होंने कहा कि सरकार उन्होंने खुद गिराई है किसी और ने नही गिराया है। कांग्रेस की ओर से वचन पत्र में ग्वालियर में रानी लक्ष्मीबाई की प्रतिमा लगाने जाने की घोषणा पर गृह मंत्री ने कहा कि कमलनाथ ग्वालियर गए तब वो रानी लक्ष्मीबाई के समाधि स्थल गए नही और अब प्रतिमा स्थापित करने की बात करते हैं। 

Dakhal News

Dakhal News 2 October 2020


bhopal, Kamal Nath, condemns Rahul and Priyanka, going to Hathras

भोपाल। उत्तर प्रदेश के हाथरस में दलित युवती से कथित गैंगरेप के बाद पीडित परिजनों से मिलने जा रहे पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी और यूपी प्रभारी प्रियंका गांधी को उप्र सीमा पर रोक दिया गया। इसके अलावा आरोप लगाया जा रहा है कि पुलिस ने राहुल और प्रियंका पर लाठीचार्ज किया और और पुलिस के साथ कांग्रेस कार्यकर्ताओं की झड़प भी हुई है। इस पूरे घटनाक्रम पर मप्र के पूर्व सीएम और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने आपत्ति जताते हुए निंदा की है। कमलनाथ ने ट्वीट कर कहा ‘हाथरस की पीडि़ता के परिजनों से मिलने जा रहे श्री राहुल गांधी व प्रियंका गांधी को यूपी की भाजपा सरकार के ईशारे पर जिस तरह से पुलिस ने बलपूर्वक जबर्दस्ती रोका, उनके साथ धक्का मुक्की की गयी, अभद्र व्यवहार किया गया, वो बेहद आपत्तिजनक व निंदनीय है। उन्होंने भाजपा पर निशाना साधते हुए कहा कि एक तरफ़ भाजपा शासित राज्यों में बहन- बेटियों के साथ दरिंदगी की घटनाएँ निरंतर घट रही है, उन्हें इंसाफ़ नहीं मिल रहा है, आरोपियों को बख्शा जा रहा है, वही दूसरी तरफ़ उनके परिजनों से मिलने जा रहे कांग्रेस नेताओ को बलपूर्वक रोका जा रहा है।कमलनाथ ने आगे अपने ट्वीट में लिखा कि ‘हाथरस की घटना पूरे देश के माथे पर कलंक है। पूरे देश ने देखा कि किस प्रकार आधी रात में परिजनों को बताये बग़ैर पीडि़ता का धार्मिक भावनाओं के विपरीत अंतिम संस्कार किया गया। किस प्रकार पीडि़ता न्याय की उम्मीद से अस्पताल में जीवन- मृत्यु से संघर्ष करती रही और यूपी सरकार बेख़बर बनी रही और जब आज राहुल गांधी और प्रियंका गांधी पीडि़ता के परिवार से मिलना चाहते है , सांत्वना देना चाहते है तो उन्हें रोका जा रहा है। यूपी सरकार की इस तानाशाही का कांग्रेस विरोध करेगी।

Dakhal News

Dakhal News 1 October 2020


khargon, After Hathras, gang rape,minor in Madhya Pradesh,Congress besieges government

खरगौन। उत्तरप्रदेश के हाथरस में नाबालिग के साथ हुए सामूहिक दुष्कर्म के मामले में पूरा देश आक्रोशित है। अब ऐसा ही एक मामला मध्यप्रदेश में भी सामने आया है। प्रदेश के खरगौन जिले में चैनपुर थाना क्षेत्र के झिरन्या पुलिस चौकी अंतर्गत एक 15 वर्षीय नाबालिग को अगवाकर उसके साथ तीन युवकों द्वारा सामूहिक दुष्कर्म किया गया और उसे जान से मारने की धमकी देकर फरार हो गए। नाबालिग किशोरी को गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती किया गया है, जहां उसका उपचार जारी है। घटना के बाद ग्रामीणों में आक्रोश है। पुलिस आरोपितों की तलाश में जुटी हुई है। इधर, घटना को लेकर कांग्रेस ने शिवराज सरकार को घेरा है।   पूर्व मुख्यमंत्री और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने गुरुवार को सोशल मीडिया के माध्यम से शिवराज सरकार पर निशाना साधा। उन्होंने ट्वीट के कहा कि खरगोन में मासूम बेटी के साथ दरिंदगी की घटना, सीहोर में फिर एक किसान की खुदकुशी की घटना, भोपाल में युवा की रोजगार ना मिलने पर खुदकुशी की घटना इसके प्रत्यक्ष उदाहरण है। पता नहीं शिवराज सरकार कब नींद से जागेगी और ऐसी घटनाओं पर रोक लगेगी?    एमपी कांग्रेस ने ट्वीट कर शिवराज सरकार को घेरते हुए ट्वीट किया है कि -‘खरगोन में यूपी जैसी घटना, आधी रात आए और नाबालिक से दुष्कर्म, मध्यप्रदेश के खरगोन में 15 वर्षीय नाबालिग के साथ तीन अज्ञात बदमाशों ने दुष्कर्म किया और लडक़ी के भाई से मारपीट की। शिवराज जी, यही राक्षसराज वापस लाने के लिये विधायक खरीदे थे..? "बेशर्मराज"   वही पूर्व केन्द्रीय मंत्री अरुण यादव ने लिखा है कि मप्र में महिलाएं एवं बच्चियां सुरक्षित नहीं है, झिरन्या (खरगोन) में 15 वर्ष की बच्ची को अगवा कर दुष्कर्म की घटना को अंजाम देने वाले आरोपियों को पकडक़र उन्हें कठोरतम सजा दी जानी चाहिए। ‘शर्मराज’।   यह है घटनाक्रम   दरअसल, घटना मंगलवार-बुधवार की दरमियानी रात खरगोन जिला मुख्यालय से 60 किमी दूर झिरन्या के ग्राम मारूगढ़ की है। पुलिस के अनुसार, बाइक पर सवार होकर आए तीन युवक रात में पानी पीने के लिए ग्राम मारूगढ़ स्थित खेत में बने एक मकान में आए और यहां से नाबालिग को उठा ले गए। इसके बाद तीनों ने नाबालिग से सामूहिक दुष्कर्म किया और जान से मारने की धमकी दी। घटना के दौरान घर में मौजूद पीडि़त किशोरी के बड़े भाई के साथ आरोपितों ने जमकर मारपीट की और वहां से फरार हो गए। घटना के बाद पीडि़त के भाई ने फोन पर परिजनों और पुलिस को सूचना दी। सूचना मिलने के बाद पुलिस मौके पर पहुंची और पीडि़त किशोरी के बयान के आधार पर प्रकरण दर्ज कर मामले की जांच शुरू की। पीडि़त नाबालिग को गंभीर हालत में खरगौन के जिला अस्पताल में भर्ती किया गया है, जहां उसका उपचार जारी है।    ग्रामीणों के अनुसार, पीडि़त नाबालिग के पांच भाई हैं और वह पांचवीं तक पढ़ाई करने के बाद भाई के साथ खेत पर ही रहती है। आरोपितों ने नाबालिग को अगवाकर कर दूर ले गए और वारदात को अंजाम दिया। रात करीब 3 बजे परिजन पीडि़त को लेकर गांव पहुंचे और सुबह छह बजे पुलिस को शिकायत की। पीडि़त ने बताया कि तीनों ने मुंह पर कपड़ा बांधा था। इसमें दो युवक आदिवासी बोली में बात कर रहे थे, जबकि एक हिंदी व निमाड़ी बोल रहा था। पुलिस के अनुसार, घटना के कुछ देर के बाद आरोपित बाइक लेने आए थे, लेकिन बाइक चालू नहीं हुई तो उसे छोडक़र भाग गए। उनकी उम्र 20-30 साल के बीच है।    एसपी शैलेंद्र चौहान के अनुसार, घटनास्थल से जो बाइक बरामद हुई है, वह तीन माह पहले इंदौर से चोरी हुई थी। पुलिस ने बाइक को आसपास के लोगों से तस्दीक कराई। ताकि घटना की जानकारी मिल सके। इंदौर में बाइक के फुटेज की जांच कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि आरोपितों के खिलाफ अपहरण और गैंगरेप का प्रकरण दर्ज किया है और उनकी तलाश की जा रही है। आरोपित जल्द पुलिस की गिरफ्त में होंगे।

Dakhal News

Dakhal News 1 October 2020


indore,Pilot vehicle overturned, Kailash Vijayvargiya

इंदौर। भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय के काफिले में शामिल पायलट वाहन बीती देर रात देवास जिले के नेवरी फाटा के पास अनियंत्रित होकर पलट गया। इस हादसे में वाहन में सवार चार सिपाही घायल हो गए। हालांकि, विजयवर्गीय का वाहन थोड़ी देर पहले ही पायलट वाहन को ओवरटेक करके आगे निकला था, क्योंकि उन्हें जल्दी इंदौर पहुंचना था, लेकिन कुछ देर बाद ही उन्हें पायलट वाहन पलटने की सूचना मिली तो वापस लौट आए और घायल सिपाहियों को देवास के एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया। बताया गया है कि एक सिपाही को गंभीर हालत में इंदौर रैफर किया गया, जबकि तीन का देवास में ही उपचार जारी है।    दरअसल, कैलाश विजयवर्गीय बुधवार को उपचुनावों को लेकर भोपाल में पार्टी की अहम बैठक में शामिल हुए थे और बैठक में शामिल होने के बाद रात करीब 12 बजे इंदौर के लिए रवाना हुए थे। उन्हें जल्दी इंदौर पहुंचना था, क्योंकि उन्हें सुबह 6.30 बजे की दिल्ली की फ्लाइट पकडऩी थी। इसीलिए तेज गति से उनका वाहन पायलट वाहन को ओवरटेक करते हुए आगे निकल गया। कुछ देर बाद सूचना मिली कि देवास के नेवरी फाटा के पास पायलट वाहन पलट गया है। घटना रात करीब 1.30 बजे की बताई गई है। विजयवर्गीय तत्काल मौके पर पहुंचे और घायल चारों सिपाहियों को अस्पताल पहुंचाया। विजयवर्गीय के सहायक मनीष श्रीवास्तव ने बताया कि हादसे में चार सिपाही घायल हुए हैं, जिनमें तीन को मामूली चोटें आई हैं, जिनका देवास में उपचार जारी है और एक सिपाही एमएस परमार को गंभीर हालत में इंदौर रैफर किया गया। उन्हें इंदौर के बाम्बे हास्पिटल में भर्ती किया गया है, जहां उनका उपचार चल रहा है।

Dakhal News

Dakhal News 1 October 2020


bhopal, After election, public celebrate Deepawali ,Congress government, Kamal Nath

भोपाल। मध्य प्रदेश में विधानसभा उपचुनाव की तारीख के ऐलान के साथ ही प्रचार प्रसार तेज हो गया है। पूर्व सीएम और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ बुधवार को मंदसौर की सुवासरा विधानसभा क्षेत्र के सीतामऊ पहुंचे। सीतामऊ पहुंचने पर बड़ी संख्या में कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने उनका स्वागत किया। इस दौरान यहां एक विशाल जनसभा को संबोधित करते हुए कमलनाथ भाजपा पर जमकर बरसे। साथ ही अपार भीड़ को देखकर उन्होंने कहा कि हमारी सभाओं में भीड़ आयी हुई होती है, लायी हुई या सरकारी भीड़ नहीं होती है और आपका इतना बड़ा जनसैलाब देखकर मुझे ताकत ,बल व शक्ति मिली है। जनसभा को संबोधित करते हुए कमलनाथ ने कहा कि प्रदेश की जनता ने हम पर विश्वास किया था।15 वर्ष बाद हमें प्रदेश सौंपा था। शिवराज जी ने जो प्रदेश हमें सौंपा था, वह किसानों की आत्महत्या में, बेरोजगारी में, भ्रष्टाचार में नंबर वन था और खुद को मामा कहने वाले शिवराज के राज में प्रदेश महिलाओं के अत्याचार में भी नंबर वन था। हमने 15 माह में किसानों की आर्थिक मजबूती, युवाओं को रोजगार को लेकर कई काम किए। हमने प्रदेश की एक नई तस्वीर बनाने का काम किया क्योंकि भाजपा सरकार में प्रदेश की पहचान माफियाओं से और मिलावटखोरों से थी। इन्होंने बाबासाहेब के बनाए हुए संविधान के साथ भी खिलवाड़ किया, सौदेबाजी व बोली से सरकार बना ली लेकिन इस चुनाव के बाद हम दीपावली साथ में मनाएँगे।आगे जनसभा को संबोधित करते हुए कमलनाथ ने कहा कि मैं प्रदेश की जनता से अपील करता हूं प्रदेश में लोकतंत्र, प्रजातंत्र व संविधान की रक्षा के लिए आगे आये। आप प्रदेश का कैसा भविष्य चाहते है, वोट से बनी सरकार या नोट से बनी सरकार, यह आपको तय करना है। भाजपा पर तंज कसते हुए उन्होंने कहा कि इनका बस चलेगा तो पंचायत का चुनाव भी नहीं करायेंगे, बोली लगाकर आपके सरपंच का चुनाव भी हो जाएगा। क्या आप प्रदेश का ऐसा भविष्य चाहते हैं, क्या आप ऐसा लोकतंत्र चाहते हैं? नहीं तो प्रदेश का भविष्य सुरक्षित रखने के लिए आप आगे आए। किसानों को साधते हुए कमलनाथ ने कहा कि मैं घोषणा वीर मुख्यमंत्री नहीं हूं। शिवराज जी तो जेब में दो-दो नारियल लेकर चल रहे हैं, कहीं भी फोड़ देते हैं और यहां भी आकर उन्होंने कई झूठी घोषणाए की है। चुनाव बाद सारे नारियल जनता गाडिय़ों में भरकर शिवराज जी को वापस भिजवा देगी। इस दौरान प्रशासन पर निशाना साधते हुए कमलनाथ ने कहा कि मैं क्षेत्र की जनता से कहना चाहता हूं कि वह शासकीय तंत्र जो भाजपा का एजेंट बनकर काम कर रहे हैं, उन से डरने की, घबराने की जरूरत नहीं। हमारी सरकार आने पर एक-एक से जनता को गवाह बनाकर हिसाब लेंगे। हमारा प्रदेश 5 राज्यों से घिरा हुआ है, हमारे प्रदेश में निवेश क्यों नहीं आ सकता क्योंकि विश्वास का माहौल नहीं था। हम रोजगार की बात करते हैं, यह बेरोजगार बनाने की बात करते हैं। हम किसान हित की बात करते हैं, यह मंडी के निजीकरण का, किसानों को बर्बाद करने वाले कानून ले आए। इन्होंने सदैव देश की जनता को ठगा है।

Dakhal News

Dakhal News 30 September 2020


bhopal,Shivraj and Kamal Nath ,pay homage, Madhavrao Scindia, death anniversary

भोपाल। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व केन्द्रीय मंत्री माधवराव सिंधिया की 30 सितम्बर को पुण्यतिथि है। वर्ष 2001 में आज ही के दिन एक विमान हादसे में उनकी मृत्यु हो गई थी। उनकी पुण्यतिथि के अवसर पर प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने उनका स्मरण करते हुए उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की है।   मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट के माध्यम से कहा है कि - ‘पूर्व केंद्रीय मंत्री माधवराव सिंधिया मुद्दों और मूल्यों की राजनीति करने वाले नेता थे। वे उनके प्रति श्रद्धांजलि अर्पित करते हैं।’ प्रदेश भाजपा अध्यक्ष विष्णुदत्त शर्मा, अन्य भाजपा नेताओं और राज्य मंत्रिमंडल के अनेक सदस्यों ने भी स्व. माधवराव  सिंधिया का उनकी पुण्यतिथि पर स्मरण किया और उनके प्रति श्रद्धासुमन अर्पित किए।   वहीं, पूर्व सीएम एवं प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने ट्वीट करते हुए कहा कि - ‘पूर्व केंद्रीय मंत्री एवं उनके साथी माधवराव सिंधिया की पुण्यतिथि के अवसर पर वे उन्हें शत शत नमन करते हैं। श्री सिंधिया ने विभिन्न पदों पर रहते हुए देश और समाज की सेवा का दायित्व बखूबी निभाया।’ वहीं, बुधवार को प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में बुधवार को श्रद्धांजलि सभा का आयोजन किया गया, जिसमें पार्टी नेताओं द्वारा स्व. माधवराव सिंधिया की प्रतिमा पर माल्यार्पण एवं पुष्पांजलि अर्पित कर उन्हें नमन किया।

Dakhal News

Dakhal News 30 September 2020


bhopal,Narottam

भोपाल। मध्य प्रदेश में विधानसभा उपचुनाव की तारीख के ऐलान के साथ ही प्रदेश की राजनीति में एक बार फिर भगवान हनुमान की एंट्री हो गई है। मंगलवार को आयोग द्वारा तारीख का ऐलान करने के बाद पूर्व मंत्री जीतू पटवारी ने ट्वीट किया था, जिसमें उन्होंने कहा था कि हनुमान भक्त कमलनाथ को मिला वरदान। मंगलवार को चुनाव की घोषणा हुई, मंगलवार, 3 नवंबर को वोटिंग होगी और मंगलवार 10 नवंबर को काउंटिंग होगी। हनुमान लला की जय। जीतू के इस ट्वीट पर प्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने पलटवार किया है।   गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने बुधवार को मीडिया से बातचीत करते हुए जीतू के हनुमान भक्त वाले ट्वीट पर पलटवार करते हुए कहा कि हनुमान भक्त हम भी हैं। हनुमान जी ही तय करेंगे किसका मंगल होगा। जनता सब समझ चुकी है। उन्होंने कहा कि वे (विपक्ष) खुद भी कह चुके हैं कि जनता उन्हें जानती है। हम भी कहते हैं यह पब्लिक है सब जानती है। पूर्व सीएम कमलनाथ के जीत के दावे पर तंज कसते हुए मंत्री मिश्रा ने कहा कि कमलनाथ जी को समझना चाहिए कि काठ की हांडी बार-बार नहीं चढ़ती। जनता सबको जानती और समझती है। ये बात उन्हें 10 नवंबर को उपचुनाव के नतीजों से समझ आ जाएगी। उपचुनाव को लेकर उन्होंने कहा कि हमारी रणनीति विकास की है और विकास के मुद्दे पर ही जनता हमें चुनाव में विजय श्री देगी झूठ बोलने वालों को नहीं।   अतिथि शिक्षकों के मामले में कांग्रेस घडिय़ाली आँसू बहा रहीअतिथि शिक्षकों के मामले में कांग्रेस के आरोपों पर निशाना साधते हुए मंत्री मिश्रा ने कहा कि अब वो लोग घडिय़ाली आँसू बहा रहे हैं जिन्होंने वचनपत्र में वादा करने के बाद भी पूरा नहीं किया। कांग्रेस इस बात का जवाब दे कि 15 महीने सरकार में रहने के बाद भी उसने अतिथि शिक्षकों के लिए क्यों कुछ नहीं किया। कुछ तो करते दो कदम तो चलते।   मास्क ही कोरोना से बचाव का इलाजइस दौरान कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों को लेकर मंत्री मिश्रा ने कहा कि मास्क ही कोरोना से बचाव का इलाज है। हमें केंद्र सरकार द्वारा जारी गाइडलाइन का पालन करना चाहिए और सावधानियां रखना चाहिए। देश में कोरोना के सक्रिय मरीज बढऩे की दर घट रही है। यह राहत का संकेत है, लेकिन अभी कोरोना वायरस संक्रमण से बचाव के लिए मास्क लगाना ही सबसे बड़ी सावधानी है। सभी लोगों को कोविड 19 की गाइडलाइन का पालन गंभीरता से करना चाहिए।

Dakhal News

Dakhal News 30 September 2020


bhopal, Bypoll date ,announced, 28 seats MP, polling held

भोपाल/दिल्ली। निर्वाचन आयोग की मंगलवार को हुई बैठक में मध्यप्रदेश विधानसभा की 28 रिक्त सीटों के लिए होने वाले उपचुनावों की तारीखों की घोषणा कर दी है। प्रदेश की सभी सीटों पर आगामी तीन नम्बर को मतदान होगा, जबकि 10 नवम्बर को परिणाम घोषित किये जाएंगे। उपचुनाव की अधिसूचना नौ अक्टूबर को जारी की जाएगी और इसके साथ ही नामांकन पत्र दाखिल करने का सिलसिला शुरू हो जाएगा, जो कि 16 अक्टूबर तक चलेगा। चुनाव आयोग के मुताबिक एक जनवरी 2020 की मतदाता सूची के आधार पर चुनाव कराए जाएंगे। उपचुनाव की तारीखों की घोषणा करते ही उपचुनाव वाले क्षेत्रों में आदर्श आचरण संहिता लागू हो गई है।   भारत निर्वाचन आयोग द्वारा मंगलवार को देशभर की विधानसभाओं की रिक्त 56 सीटों के उपचुनाव का कार्यक्रम तय कर दिया है। इनमें मध्यप्रदेश की 28 सीटें भी शामिल हैं। यहां आगामी तीन नवम्बर को मतदान होगा, जबकि 10 तारीख को मतगणना होगी और इसी दिन नतीजे घोषित किये जाएंगे। चुनाव आयोग के मुताबिक, प्रदेश में नौ अक्टूबर को उपचुनाव की अधिसूचना जारी होने के साथ ही नामांकन दाखिल करने की प्रक्रिया शुरू होगी और 16 अक्टूबर को नामांकन पत्र दाखिल हो सकेंगे।   चुनाव आयोग ने कहा है कि कोरोना संक्रमण के बीच उपचुनाव के दौरान विशेष सावधानियां बरती जाएंगी। मतदाताओं को आधार कार्ड, मनरेगा का जॉब कार्ड, पैन कार्ड, बैंक या पोस्ट ऑफिस की पासबुक, हेल्थ इंश्योरेंस के स्मार्ट कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस, पासपोर्ट सहित अन्य दस्तावेजों के आधार पर मतदान करने की अनुमति होगी। इस बार 80 वर्ष से अधिक आयु के व्यक्ति को डाक मतपत्र की सुविधा दी जाएगी। ऐसे मतदाता अपने घर से ही मतदान कर सकेंगे। इसके साथ ही कोरोना संक्रमित और संदिग्ध को भी डाक मतपत्र दिया जाएगा। मतदानकर्मी, ऐसे मतदाताओं के घर जाकर डाक मतपत्र लेकर आएंगे। इस पूरी प्रक्रिया की वीडियोग्राफी भी कराई जाएगी। चुनाव में कोरोना संक्रमण की स्थिति को देखते हुए आयोग द्वारा दिए गए दिशा निर्देशों का पालन करना अनिवार्य होगा।   गौरतलब है कि मध्यप्रदेश में पहली बार इतनी अधिक सीटों पर उपचुनाव हो रहे हैं। इसकी वजह इसी साल प्रदेश हुआ सत्ता परिवर्तन है। दरअसल, कांग्रेस के 25 विधायक अपनी विधानसभा की सदस्यता से इस्तीफा देकर भाजपा में शामिल हुए हैं। इनमें से 22 कांग्रेस विधायकों ने कमलनाथ सरकार गिराने में अहम भूमिका निभाई थी। वहीं, तीन सीटें विधायकों के निधन के बाद खाली हुई हैं। उपचुनाव को लेकर प्रदेश की दोनों प्रमुख पार्टियों भाजपा और कांग्रेस की तैयारियां जोर-शोर से चल रही हैं और कुछ सीटों पर उम्मीदवारों की घोषणा भी हो चुकी है। वहीं, बसपा ने भी चुनावी समर में आठ सीटों पर अपने उम्मीदवारों की घोषणा कर दी है।    मध्यप्रदेश की 230 सीटों वाली विधानसभा में फिलहाल भाजपा के 107, कांग्रेस के 88, बसपा के दो, सपा का एक और चार निर्दलीय विधायक हैं, जबकि बहुमत का आंकड़ा 116 है। इसीलिए यह उपचुनाव प्रदेश में सत्ता का निर्धारण करेंगे। रिक्त 28 में से 27 सीटों पर कांग्रेस का कब्जा था। अगर भाजपा उपचुनाव में बेहतर प्रदर्शन करती है तो उसकी सरकार और स्थिर होगी। वहीं, दूसरी तरफ कांग्रेस 20 से अधिक सीटें जीतने के प्रयास करेगी, ताकि कमलनाथ की सरकार प्रदेश में पुन: बन सके।

Dakhal News

Dakhal News 29 September 2020


bhopal, Kamal Nath, big announcement, debt waived, Congress government

भोपाल। मध्य प्रदेश में होने वाले विधानसभा उपचुनाव की तारीख सामने आने के बाद राजनीतिक गलियारों में हलचल तेज हो गई है। पूर्व सीएम कमलनाथ ने उपचुनाव में सभी सीटों पर जीत का दावा किया है। वहीं उन्होंने उपचुनाव से पहले किसानों को लेकर बड़ा ऐलान किया है। मंगलवार को अपने रायसेन दौरे पर एक विशाल जनसभा को संबोधित करते हुए कमलनाथ ने कहा कि हमारी सरकार आने पर हम इस वादे को निभाएंगे, बचे हुए किसानों का भी कर्ज माफ होगा।मैं शिवराज जी की तरह घोषणावीर नहीं हूं। इस दौरान उन्होंने जनता से साँची से कांग्रेस के प्रत्याशी मदन लाल चौधरी को भारी मतों से विजयी बनाने की अपील की।   सभा को संबोधित करते हुए कमलनाथ शिवराज सरकार और भाजपा पर जमकर बरसें। उन्होंने कहा कि आज प्रदेश में उप चुनाव की घोषणा हुई है, 3 नवंबर को चुनाव होने जा रहा है। यह कहने को उपचुनाव है लेकिन यह वास्तव में मध्यप्रदेश के भविष्य का चुनाव है। यह उपचुनाव मध्यप्रदेश का भविष्य तय करेगा, यह तय करेगा कि प्रदेश कौन सी पटरी पर चलेगा। प्रदेश के नौजवानों का, किसानों का भविष्य क्या होगा?   सीएम शिवराज पर तंज कसते हुए कमलनाथ ने कहा कि " हर चुनाव में जेब में एक नारियल लेकर चलने वाले शिवराज इन उपचुनावों में दो-दो नारियल लेकर चल रहे है रोज़ झूठ , झूठी घोषणाएँ इनकी आदत बन चुका है। कुछ लोग बिकाऊ हो सकते है लेकिन प्रदेश के मतदाताओं को बिकाऊ समझने की भूल ना करे भाजपा व शिवराज। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि बाबासाहेब आंबेडकर जी ने हमें संविधान दिया, उन्होंने इसमें कई प्रावधान रखे कि कभी कोई विधायक या सांसद नहीं रहेगा तो उपचुनाव होंगे लेकिन उन्होंने कभी नहीं सोचा होगा कि ऐसा भी समय आएगा कि सौदा होने के कारण उपचुनाव की नौबत आएगी। भाजपा ने संविधान और प्रजातंत्र के साथ खिलवाड़ किया है। मध्य प्रदेश को भाजपा ने देश भर में कलंकित किया है, राजनीति को बिकाऊ बनाने का काम भाजपा ने किया है। 15 वर्ष बाद हमारी सरकार आयी थी, प्रदेश की जनता ने नवंबर 2018 में हमें सत्ता की बागडोर सौंपी। जनता ने कहा कि शिवराज जी आप का 15 वर्ष का शासन काल हमने देख लिया, बहुत हो गया, बहुत देख ली आपकी झूठी घोषणाएं, झूठे आश्वासन देख लिए, अब हम कांग्रेस को मौका देना चाहते हैं लेकिन इन्हें बर्दाश्त नहीं हुआ और 15 माह में ही हमारी चुनी हुई लोकप्रिय, जनादेश वाली सरकार को गिरा दिया गया।   इस दौरान केन्द्र सरकार पर निशाना साधते हुए कमलनाथ ने कहा कि मोदी जी पहले कहते थे हमारी सरकार आयी तो हम 2 करोड़ युवाओं को प्रतिवर्ष रोजगार देंगे। फिर कोरोना महामारी में उन्होंने 20 लाख करोड़ के पैकेज की घोषणा की। मैं पूछना चाहता हूं क्या किसी को 20 रुपये भी मिले क्या ? इस अवसर पर सभा को सम्बोधित करते हुए उन्होंने कहा कि अभी केंद्र की मोदी सरकार ने किसान विरोधी 3 कानून लागू किये है। इन कानूनों के माध्यम से वह मंडियों का निजीकरण करना चाहते है।इस निर्णय से किसान बर्बाद होगा लेकिन बड़े-बड़े औद्योगिक घराने, व्यापारी फायदे में रहेंगे। भाजपा को किसानों की चिंता नहीं है उन्हें तो बड़े व्यापारियों की चिंता है। मैं इस मंच के माध्यम से उन अधिकारियों को चेतावनी देना चाहता हूं जो निष्पक्ष ढंग से काम नहीं करते हुए भाजपा सरकार के इशारे पर काम कर रहे हैं। पुलिस को अपनी वर्दी की इज्जत रखना चाहिए। मैं शुरु से कहता हूं कि कमलनाथ की चक्की देर से चलती है लेकिन पिसती बहुत बारीक है। मैं जनता को गवाह बनाकर ऐसे अधिकारियों से हिसाब लूँगा।

Dakhal News

Dakhal News 29 September 2020


bhopal, Madhya Pradesh, Election Commission,announce dates

भोपाल। निर्वाचन आयोग की मीटिंग अब से कुछ ही देर में दिल्ली में होने जा रही है। इस मीटिंग में मध्यप्रदेश की 28 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव के कार्यक्रम की घोषणा की जा सकती है। चुनाव आयोग ने बिहार चुनाव की तारीखों के ऐलान के समय मध्यप्रदेश में उपचुनाव का ऐलान नहीं किया था। चुनाव आयोग ने कहा था कि मध्यप्रदेश के उपचुनावों को लेकर 29 सितंबर की मीटिंग में फैसला लिया जाएगा।   मध्यप्रदेश के उपचुनावों में भाजपा के सामने अपनी सत्ता बचाने और कांग्रेस के सामने छह महीने पहले खोई सत्ता वापस पाने की चुनौती है। इस उपचुनाव में कांग्रेस छोड़कर भाजपा में आए ज्योतिरादित्य सिंधिया की साख भी दांव पर लगी है, क्योंकि जिन 28 सीटों पर उपचुनाव हो रहा है उनमें 16 सीटें सिंधिया के प्रभाव वाले ग्वालियर-चंबल क्षेत्र की है। मध्यप्रदेश में 28 सीटों पर विधानसभा उपचुनाव होने हैं। पहली बार प्रदेश में इतने बड़े पैमाने पर उपचुनाव हो रहे हैं। इसकी वजह प्रदेश में मार्च में हुआ सियासी फेरबदल है। इसी साल 10 मार्च को ज्योतिरादित्य सिंधिया के साथ कांग्रेस के 22 विधायकों ने पार्टी से इस्तीफा देकर भाजपा का दामन थाम लिया था। इसके बाद अल्पमत में आई कमलनाथ सरकार गिर गई थी। कांग्रेस विधायकों के इस्तीफा देने से 22 सीटें खाली हो गई थीं। इसके बाद जुलाई में बड़ा मलहरा से कांग्रेस विधायक प्रद्युम्न सिंह लोधी और नेपानगर से कांग्रेस विधायक सुमित्रा देवी कसडेकर ने भी कांग्रेस छोड़कर भाजपा जॉइन कर ली। फिर मांधाता विधायक ने भी कांग्रेस छोड़ भाजपा का झंडा पकड़ लिया। इसके अलावा, तीन विधायकों का निधन हो गया। यानी कुल 28 विधानसभा सीटें खाली हो गईं, जिन पर एक साथ उपचुनाव कराए जाना है।

Dakhal News

Dakhal News 29 September 2020


morena, formation flyover, adds another ,new chapter, development, Shivraj

मुरैना। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि मुरैना बैरियर चौराहे पर 108 करोड़ रुपये की लागत से बने फ्लाई ओवर के लोकार्पण से मुरैना के विकास में एक और नया अध्याय जुड़ गया है। उन्होंने कहा कि मुरैना के विकास में कहीं कोई कोर कसर नहीं छोड़ी जायेगी। यह बात मुख्यमंत्री ने सोमवार को फ्लाई ओवर के लोकार्पण अवसर पर भोपाल से वेव कास्टिंग के माध्यम से कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कही। जिसका सीधा प्रसारण कार्यक्रम स्थल पर एलईडी के माध्यम से देखा गया।      कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित केन्द्रीय कृषि, पंचायती राज ग्रामीण विकास मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने कहा कि मुरैना के बेरियर चौराहा पर बने फ्लाई ओवर से जाम की स्थिति से मुक्ति मिल गई और फ्लाई ओवर बन जाने से लोगों की वर्षों पुरानी समस्या खत्म हो गई। सड़क परिवहन और राजमार्ग के केन्द्रीय राज्यमंत्री बीके सिंह ने कहा कि फ्लाई ओवर ब्रिज के बन जाने से मुरैना राष्ट्रीय राजमार्ग पर आवागमन सुगम होगा। राज्य मंत्री सिंह भी दिल्ली से वेव कास्टिंग के माध्यम से फ्लाई ओवर के लोकार्पण कार्यक्रम को संबोधित किया। लाइव टेलीकास्ट के अवसर पर केन्द्रीय स्पात राज्य मंत्री फग्गन सिंह कुलस्ते, राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया दिल्ली में मौजूद रहे।   मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि मैं सड़क परिवहन एवं पोत मंत्रालय के केन्द्रीय मंत्री नितिन गडकरी और कृषि एवं ग्रामीण विकास मंत्री तोमर को धन्यवाद देता हूं, जिन्होंने 108 करोड़ रुपये की सौगात देकर मुरैना में फ्लाई ओवर का निर्माण कराकर मुरैना के विकास में एक और नया अध्याय जोड़ दिया है। उन्होंने कहा कि इस अनुपम सौगात से मुरैनावासियों को बहुत सुविधा मिलेगी। उन्होंने कहा कि मुरैना को नगर निगम बनाने, 600 बिस्तर का अस्पताल बनाने, नाला नं. 1 व 2 का निर्माण एवं पाटने का कार्य, शानदार कलेक्ट्रेट भवन का निर्माण करने, भिण्ड में सैनिक स्कूल मुरैना में चंबल से पानी लाने का प्रस्ताव, अंचल में चंबल प्रोग्रेस वे की स्वीकृति, मुरैना में मेडिकल कॉलेज, मुरैना में सड़कों का निर्माण करने और सिंचाई की विभिन्न सुविधाओं को विस्तार करने का काम प्रदेश सरकार ने ही किया है। उन्होंने कहा कि विकास की गाथा को लिखने का काम जारी है।      पूर्व भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण के क्षेत्रीय प्रबंधक जायसवाल ने कहा कि इस फ्लाई ओवर की लागत 108 करोड़ रुपये है। डेढ़ किलोमीटर लंबे बने इस पुल का अनुबंध 30 जनवरी 2018 को हुआ था, जिसका काम 14 मार्च 2018 को प्रारंभ हुआ। जायसवाल ने कहा कि फ्लाई ओवर की कुल लंबाई एप्रोच सहित 1420 मीटर है। मूल स्ट्रक्चर की लंबाई 780 मीटर है। सर्विस रोड़ की लंबाई 1420 (मार्ग के दोनों ओर एप्रोच) है। फ्लाईओवर के दोनों तरफ 1.42 किलोमीटर लंबाई की ड्रेन का भी निर्माण किया गया है।

Dakhal News

Dakhal News 28 September 2020


bhopal, Senior IPS, Purushottam Sharma, removed post

भोपाल। मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में पत्नी से मारपीट का वीडियो वायरल होने के बाद वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी एवं लोक अभियोजन संचालनालय के संचालक पुरुषोत्तम शर्मा को राज्य सरकार ने तत्काल पद से हटा दिया है। इस संबंध में गृह विभाग द्वारा सोमार को आदेश जारी कर दिया गया है।   जारी आदेश के मुताबिक, लोक अभियोजन संचालनालय मप्र भोपल के संचालक पुरूषोत्तम शर्मा को तत्काल प्रभाव से स्थानांतरित करते हुए कार्यमुक्त किया गया है। बता दें कि रविवार देर रात सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हुआ था, जिसमें एक व्यक्ति अपनी पत्नी की बेरहमी से पिटाई करते हुए साफ दिखाई दे रहा है। बताया जा रहा है कि अपनी पत्नी को पीटने वाले वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी पुरुषोत्तम शर्मा हैं। वे अपनी पत्नी को पीटते हुए अपशब्दों का इस्तेमाल कर रहे हैं। इस मामले में गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने सोमवार सुबह ही मीडिया से बातचीत में कहा था कि लिखित शिकायत के बाद कार्रवाई की जाएगी। कुछ देर बाद ही गृह विभाग ने आदेश जारी कर उन्हें पद से हटा दिया।

Dakhal News

Dakhal News 28 September 2020


bhopal, Former CM ,Kalnath, raised questions , law and order

भोपाल। सतना जिले के सिंहपुर थाना में पूछताछ के लिए लाये गए संदेही की गोली लगने से हुई मौत के मामले में पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने शिवराज सरकार पर निशाना साधते हुए कानून व्यवस्था पर सवाल उठाये हैं, साथ ही उन्होंने घटना की उच्च स्तरीय जांच और दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की है।   पूर्व सीएम कमलनाथ ने सोमवार को ट्वीट करते हुए कहा कि -‘शिवराज सरकार में ये कैसी कानून व्यवस्था? सतना जिले के सिंहपुर थाने में पूछताछ के लिये लाये गये राजपति कुशवाह नाम के व्यक्ति को रात में लॉकअप में गोली मार दी गयी, परिजन यह आरोप लगा रहे हैं।’ उन्होंने आगे लिखा है कि - ‘परिजन व ग्रामीण शव लेने व घटना का विरोध करने जब थाने पहुंचे तो उन पर बर्बर तरीके से लाठीचार्ज किया गया, उन्हें शव भी नहीं दिया जा रहा है। मैं सरकार से मांग करता हूँ कि इस घटना की उच्चस्तरीय जाँच हो, दोषियों पर कड़ी से कड़ी कार्यवाही हो और परिवार को इंसाफ मिले।’   दरअसल, सिंहपुर थाना पुलिस चोरी के मामले में संहेद के आधार पर रविवार को नारायणपुर गांव में बढ़ईगीरी और राजगीर मिस्त्री का काम करने वाले राजपति कुशवाहा (45) को पूछताछ के लिए थाने लेकर आई थी। रात में सिंहपुर थाने में लॉकअप में गोली लगने से उसकी मौत हो गई। जिस रिवाल्वर से राजपति को गोली लगी, वह सिंहपुर थाना प्रभारी विक्रम पाठक की सर्विस रिवॉल्वर थी। थानेदार की सर्विस रिवॉल्वर से चली गोली से हुई मौत के बाद मृतक के परिजन और बड़ी संख्या में ग्रामीण थाने पहुंच गए और धरने पर बैठ गए। परिजनों का आरोप है कि थाना प्रभारी ने नशे में गोली मार दी। इसी मामले को लेकर कमलनाथ ने प्रदेश की कानून व्यवस्था पर सवाल उठाये हैं।

Dakhal News

Dakhal News 28 September 2020


bhopal,Congress releases ,second list , Madhya Pradesh by-election, nine candidates declared

  भोपाल। मध्यप्रदेश विधानसभा की रिक्त 28 सीटों पर होने वाले उपचुनावों की तैयारियों में जुटी कांग्रेस पार्टी ने रविवार को उम्मीदवारों की दूसरी सूची जारी की गई है। इस सूची में नौ सीटों पर उम्मीदवारों के नाम घोषित किये गये हैं।    पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव मुकुल वासनिक द्वारा जारी सूची के अनुसार मुरैना जिले की जौरा सीट से पंकज उपाध्याय, सुमावली से अजब कुशवाहा, ग्वालियर पूर्व से सतीश सिकरवार, पोहरी विधानसभा सीट से हरिवल्लभ शुक्ला, मुंगावली से कन्हैयालाल लोधी, सुरखी से पारूल साहू, मांधाता से उत्तमराज सिंह, बदनावर से अभिषेक सिंह टिंकू और सुवासरा से राकेश पाटीदार को कांग्रेस ने अपना उम्मीदवार बनाया है। इनमें सतीश सिकरवार और पारूल साहू हाल ही में भाजपा छोडक़र कांग्रेस में शामिल हुए हैं।    बता दें कि कांग्रेस ने पहली सूची एक सप्ताह पहले जारी की थी, जिसमें 15 सीटों के उम्मीदवारों के नाम घोषित किये गए थे। अब नौ उम्मीदवारों और घोषित कर दिये गए। इस प्रकार अब तक कांग्रेस 24 सीटों पर अपने उम्मीदवार घोषित कर चुकी है। अब शेष चार शेष हैं, जिन पर उम्मीदवार घोषित होना बाकी है।  

Dakhal News

Dakhal News 27 September 2020


bhopal, Farmer giving life, absence relief,game of electoral, bhumi pujan,Kamal Nath

भोपाल। मध्य प्रदेश में चुनावी संग्राम में राजनीतिक दाव बने किसानों को लेकर आरोप प्रत्यारोप का दौर ओर तेज हो गया है। कांग्रेस प्रदेश सरकार पर किसानों के साथ झूठ और फरेब का आरोप लगा रही है और लगातार किसान कर्ज माफी को लेकर भाजपा का घेराव कर रही है। वही अब मप्र के पूर्व सीएम और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने एक बार फिर सीएम शिवराज पर किसानों को लेकर बड़ा हमला बोला है।   कमलनाथ ने रविवार को ट्वीट कर किसानों के मुद्दे पर एक बार फिर प्रदेश सरकार और सीएम शिवराज पर निशाना साधा है। कमलनाथ ने ट्वीट कर लिखा ‘शिवराज जी, अतिवर्षा, कीटों के प्रकोप से प्रदेश के विभिन्न हिस्सों में खऱाब हुई फसलों का किसानों को अभी तक मुआवजा नहीं मिला है, उन्हें आपकी सरकार ने कोई राहत प्रदान नहीं की है। एक अन्य ट्वीट कर उन्होंने सीएम शिवराज पर तंज कसते हुए कहा कि आपने बाढ़ पर्यटन खूब किया, पीडि़तों के बीच खूब लच्छेदार भाषण दिये लेकिन अभी तक उन्हें राहत प्रदान नहीं की। आज भी आपके गृह जिले विदिशा के सिरोंज के ग्राम भोरिया में फसल बर्बादी से दुखी किसान गोवर्धन भावसार ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली है।   उन्होंने कहा कि भले आपकी पूरी सरकार किसान की इस आत्महत्या के पीछे भी अन्य कारण बताने में जुट जाए, लेकिन सच्चाई यह है कि प्रदेश का किसान राहत के अभाव में अपनी जान दे रहा है और इनसे बेखबर आपका चुनावी पर्यटन, करोड़ों की झूठी घोषणाएँ, झूठे शिलान्यास, चुनावी भूमिपूजन का खेल जारी है।  

Dakhal News

Dakhal News 27 September 2020


bhopal, BJP leaders, including CM Shivraj ,expressed grief , death,Jasatan Singh

भोपाल। पूर्व केंद्रीय मंत्री जसवंत सिंह का आज रविवार सुबह निधन हो गया। जसवंत सिंह 82 साल के थे और लंबे समय से बीमार चल रहे थे। उन्हें दिल्ली के आर्मी हॉस्पिटल में 25 जून को भर्ती कराया गया था। वह अटल बिहारी वाजपेयी सरकार में मंत्री रहे थे। पूर्व केन्द्रीय मंत्री के निधन पर मप्र के सीएम शिवराज सिंह चौहान समेत भाजपा नेताओं ने गहरा दुख व्यक्त किया है।   सीएम शिवराज ने ट्वीट कर जसवंत सिंह के निधन पर उन्हें विनम्र श्रद्धांजलि दी है और परिवार के प्रति संवेदना व्यक्त की है। सीएम शिवराज ने ट्वीट कर कहा ‘देश ने अपने एक सच्चे एवं समर्पित सेवक श्री जसवंत सिंह जी के रूप में अपना एक अमूल्य सपूत खो दिया। ईश्वर से दिवंगत आत्मा को अपने श्री चरणों में स्थान और परिजनों को यह गहन दु:ख सहन करने की शक्ति देने की प्रार्थना करता हूं। विनम्र श्रद्धांजलि! एक अन्य ट्वीट कर उन्होंने कहा ‘पूर्व केन्द्रीय मंत्री श्रद्धेय श्री जसवंत सिंह जी ने पूर्ण समर्पण और निष्ठा के साथ आजीवन देश की सेवा करते रहे। एक सैनिक के रूप में मातृभूमि की सेवा करने के बाद आपने रक्षा मंत्री, विदेश और वित्त मंत्री के रूप में देश की सेवा की। ऐसे सच्चे सपूत को विनम्र श्रद्धांजलि।   गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने जसवंत सिंह को विनम्र श्रद्धांजलि देते हुए अपने शोक संदेश में कहा ‘पूर्व वित्त एवं रक्षा मंत्री श्री जसवंत सिंह जी के निधन की दुखद सूचना मिली है। एक सैनिक और प्रभावी राजनेता के रूप में देश की सेवा और विकास में उनका योगदान भुलाया नहीं जा सकेगा। ईश्वर दिवंगत आत्मा को शांति प्रदान करें और परिजनों को यह दुख सहने की शक्ति दें।   भाजपा राष्ट्रीय महासचिव कैलाश वियजवर्गीय ने जसवंत सिंह के निधन पर शोक जताते हुए कहा ‘पूर्व केंद्रीय रक्षा मंत्री श्री जसवंत सिंह जी को सादर श्रद्धांजलि। वे वाजपेयी-सरकार में महत्वपूर्ण विभागों के मंत्री रहे थे। भाजपा की जड़ों को मजबूती देने में उनके अभूतपूर्व योगदान को कभी भुलाया नहीं जा सकेगा। ईश्वर उन्हें अपने श्रीचरणों में स्थान दे।

Dakhal News

Dakhal News 27 September 2020


bhopal, Unable stop, exploitation farmers, profitable middlemen, New ordinance, TS Singhdev

भोपाल। अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के कृषि अध्यादेशों के विरोध में चलाए जा रहे जागरूकता अभियान के पक्ष में शनिवार को छत्तीसगढ़ के स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने भोपाल स्थित प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में एक पत्रकारवार्ता को संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने अध्यादेशों की मंशा और नीयत पर सवाल खड़े करते हुए चौतरफा हमले किए।   उन्होंने बताया कि कृषि आर्थिकी में कोई भी सुधार न्यूनतम समर्थन मूल्य सुनिश्चित किए बिना किसानों का हितैषी नहीं हो सकता। नये अध्यादेश शोषण और छोटे किसानों के दमन को मौका देते हैं। उन्होंने बताया कि देश में 86.21 प्रतिशत किसानों के परिवार में 5 एकड़ से कम की जोत है। क्या ऐसा किसान कारपोरेट अनुबंधों के खिलाफ मुकदमे लड़ सकता है? जो किसान पेट भरने की लड़ाई लड़ रहा है, फसल के मूल्य की लड़ाई लड़ रहा है, क्या वह वकील की फीस भी चुका सकता है। सिंहदेव ने गुजरात का उदाहरण देते हुए कहा कि कांट्रैक्ट फार्मिंग वर्तमान परिस्थितियों में शोषण और किसानों की लूट को हवा देने का हथियार बन गया है। गुजरात में पेप्सीको कंपनी ने कई किसानों पर लेय्ज में लगने वाले आलू पैदा करने के खिलाफ मुकदमे लगा रखे हैं। स्वयं प्रधानमंत्री उन किसानों की रक्षा नहीं कर पा रहे हैं। अनुबंधों में बंधा किसान इस तरह चक्रव्यूह में फंसाया जायेगा। यदि ऐसा ही पूरे देश में 1 एकड़ 2 एकड़ की होल्डिंग रखने वाले किसान के साथ हुआ तो सरकार उसे क्या संरक्षण देगी, यह बताएं?   भाजपा की नीयत तो शांता कुमार कमेटी से ही जाहिर हो चुकी थी इस दौरान सिंहदेव ने सवाल किया कि अगर न्यूनतम समर्थन मूल्य सरकार कहती है कि खत्म नहीं होगा। तो इसे अध्यादेश में लिखने में क्या आपत्ति है? सरकार ने उसे अध्यादेशों में क्यों नहीं लिखा। उल्टे आध्यादेशों में यह लिखा गया है कि जब तक व्यापारी 100 रुपए के 200 रुपए कमाता है तब तक सरकार कोई हस्तक्षेप नहीं करेगी, यानी सरकार की मध्यस्थता तब शुरू होगी। जब 100 का माल 201 में बेचा जाएगा। यह उपभोक्ता की लूट का कानूनी प्रावधान है? कांग्रेस पार्टी इसका विरोध करती है। सिंहदेव ने यह भी बताया कि प्रधानमंत्री मोदी जब गुजरात के मुख्यमंत्री थे तब केन्द्र सरकार द्वारा उपभोक्ता मामलों पर बनाए गए वर्किंग ग्रुप के सदस्य थे, तब उन्होंने स्वयं उस बैठक में यह मुद्दा डलवाया था कि कोई भी अंतर राज्यीय आदान-प्रदान बिना न्यूनतम समर्थन मूल्य सुनिश्चित किए वैध नहीं माना जाना चाहिये। तब आज प्रधानमंत्री की हैसियत में वे इसी संरक्षण को कानून से क्यों गायब रखना चाहते हैं ? इसका उत्तर आना चाहिए ।   सिंहदेव ने कहा कि संघीय ढांचे में शेड्यूल सात एवं कॉन्करेंट सूची के अनुसार कृषि राज्य का विषय है। इसमें कोई भी दखल संवैधानिक बुनियादी अधिकार का अतिक्रमण है। राज्य सरकारों के अधिकारों पर कुठाराघात है। उन्होंने आश्चर्य व्यक्त किया कि राज्यसभा में जिस तरह से मत विभाजन को टाला गया। वह हिटलर शाही की ओर देश को ले जाने वाला है। जब सरकार बहुमत में है तो उसे मत विभाजन से क्या डर था यह उसे बताना चाहिए। धीरे धीरे देश को ऐसे रास्ते पर धकेला जा रहा है कि जिस का बहुमत है वह देश पर अपनी मनमर्जी थोप सकता है। कांग्रेस पार्टी इसे होने नहीं देगी।

Dakhal News

Dakhal News 26 September 2020


bhopal,Agriculture bill ,giving freedom, farmers, opposing farmers, against,CM Shivraj

भोपाल। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने केन्द्र सरकार द्वारा संसद में पारित कृषि संबंधी विधेयकों को किसानों को आजादी दिलाने वाला बताते हुए कांग्रेस पर जमकर निशाना साधा है। उन्होंने कहा है कि इन बिलों का बेवजह विरोध हो रहा है। कांग्रेस के लोग इन बिलों का विरोध कर किसानों का विरोध कर रहे हैं।    दरअसल, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शनिवार को भोपाल स्थित मिंटो हॉल में मुख्यमंत्री किसान कल्याण योजना के शुभारंभ कार्यक्रम में मध्यप्रदेश के 1.75 लाख कृषकों के बैंक खातों में मुख्यमंत्री किसान कल्याण योजना के अंतर्गत राशि का सिंगल क्लिक से ट्रांसफर किया। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि यशस्वी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के दिल में देश को बनाने और जनता के कल्याण का काम करने का अद्भुत जज्बा है। जो उनके दिल में किसानों, जनता और देश के कल्याण के लिए जिद है, वह अभिनंदनीय है। मैं उनके प्रति अगाध श्रद्धा रखता हूं।   मुख्यमंत्री ने कहा कि कृषि बिल 2020 में किसान को अपनी उपज कहीं भी बेचने की अनुमति है। अगर किसान का सौदा किसी एक्सपोर्टर या व्यवसायी से पट जाये, तो अपने घर या खेत से ही उपज बेच सकता है। जो लोग इसका विरोध कर रहे हैं, इसमें विरोध की वजह बताएं। आलू, प्याज और लहसुन का स्टॉक रखने की सीमा खत्म कर दी गई है, इससे किसानों को कोई नुकसान नहीं है। किसान को आजादी दिलाने का बिल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी लाये हैं, इसका विरोध कर कांग्रेसी किसानों का भी विरोध कर रहे हैं।   सीएम शिवराज ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी किसानों के मसीहा हैं। उन्होंने देश के किसानों के उत्थान के लिए किसान सम्मान निधि देना प्रारम्भ किया। हमने भी इसमें योगदान देने का निर्णय लिया जिससे किसानों को कुल 10,000 रुपये की राशि प्रति वर्ष मिलेगी। हम मध्यप्रदेश के अलग-अलग जिलों के अलग-अलग उत्पाद को चिन्हित कर उनकी गुणवत्ता में सुधार करेंगे और एक्सपोर्ट क्लस्टर बनायेंगे। इससे किसान की आय दोगुना नहीं, कई गुना बढ़ जाएगी। आखिर आपका उत्थान ही तो मेरी जिंदगी का लक्ष्य है।

Dakhal News

Dakhal News 26 September 2020


bhopal, Big shock Congress, Vindhya, veteran leader, Shrikant Chaturvedi, joined BJP

भोपाल। मध्यप्रदेश में 28 सीटों पर होने वाले विधानसभा उपचुनाव को लेकर सियासी गलियारों में सरगर्मी चरम पर है। दोबारा सत्ता हासिल करने के लिए कांग्रेस एड़ी चोटी का जोर लगा रही है। इस बीच दलबदल की राजनीति भी तेजी से जारी है। राजनेता एक पार्टी को छोड़ दूसरी का हाथ थाम रहे हैं। इस कड़ी में कांग्रेस को एक ओर बड़ा झटका लगा हैं। विंध्य अंचल से कांग्रेस के दिग्गज नेता श्रीकांत चतुर्वेदी ने भाजपा का दामन थाम लिया है।   सीएम शिवराज और ज्योतिरादित्य सिंधिया ने उन्हें मुख्यमंत्री निवास में भाजपा की सदस्यता दिलाई है। बता दें कि उपचुनाव से पहले श्रीकांत चतुर्वेदी का भाजपा में शामिल होना कांग्रेस के लिए बड़ा झटका साबित हो सकता है। सीएम शिवराज ने ट्वीट कर श्रीकांत चतुर्वेदी के भाजपा में शामिल होने की जानकारी साझा करते हुए भाजपा परिवार में उनका स्वागत किया है। उन्होंने ट्वीट कर कहा ‘आज विंध्य अंचल के वरिष्ठ कांग्रेस नेता श्रीकान्त चतुर्वेदी जी और मुरैना जिले के वरिष्ठ कांग्रेस नेता श्री सत्येंद्र सिंह तोमर ने @BJPyMP  की सदस्यता ग्रहण की है। आपने जनता के हित को सर्वोपरि रखकर निर्णय लिया है, मैं आप दोनों का भाजपा के विशाल परिवार में हार्दिक स्वागत करता हूँ।   गौरतलब है कि श्रीकांत चतुर्वेदी 2018 विधानसभा चुनाव में मैहर सीट से कांग्रेस उम्मीदवार थे। लेकिन श्रीकांत को भाजपा उम्मीदवार नारायण त्रिपाठी के हाथों हार का सामना करना पड़ा था। उन्हें करीब 22 सौ वोटों से हार का सामना करना पड़ा था।

Dakhal News

Dakhal News 26 September 2020


bhopal, Bullying wholesale transfers,police officers, Congress complain , Election Commission

भोपाल। मप्र सरकार द्वारा उपचुनाव से पहले किए जा रहे तबादलों पर राजनीति गर्मा गई है। कांग्रेस इस मामले पर आक्रामक हो गई है और आरोप प्रत्यारोप का दौर तेज हो गया है। कांग्रेस सरकार पर तबादलों को लेकर सवाल साध रही है। मध्यप्रदेश कांग्रेस कमेटी के मीडिया समन्वयक नरेंद्र सलूजा ने आरोप लगाते हुए कहा है कि भाजपा ने प्रदेश में लोकतंत्र और संविधान के साथ छेड़छाड़ कर, संवैधानिक मूल्यों की हत्या की, एक जनादेश प्राप्त लोकप्रिय सरकार को बीच में गिराया और अब प्रदेश में होने वाले आगामी उपचुनावों को देखते हुए उसे हार का भय सता रहा है।   सलूजा ने शुक्रवार को जारी अपने बयान में सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि जनता के मूड को भाजपा भाँप चुकी है, इसलिए शिवराज सरकार द्वारा इन उपचुनावो की घोषणा के पूर्व ताबड़तोड़ तबादले पर तबादले किए जा रहे हैं और इन तबादलों के माध्यम से अपने चहेतों अफसरो की उपचुनाव वाले क्षेत्रों में पोस्टिंग कर वो चुनाव जीतना चाहती है। कांग्रेस नेतार ने कहा कि इस कोरोना महामारी में भी क्या कारण है कि इतने थोक बंद ताबड़तोड़ तबादले शिवराज सरकार द्वारा किए जा रहे हैं। बड़े पैमाने पर " ट्रांसफऱ उद्योग "चलाया जा रहा है? जब चुनाव आयोग की प्रेस कॉन्फ्रेंस चालू होने वाली थी, जिसमें  प्रदेश के उपचुनाव की घोषणा होना संभावित थी, उसके कुछ मिनट पूर्व ही ताबड़तोड़ इतनी बड़ी संख्या में पुलिस अधिकारियों के तबादले बता रहे हैं कि शिवराज सरकार को जनमत पर भरोसा नहीं है, वह अधिकारियों के भरोसे पिछले दरवाजे से चुनाव जीतना चाहती है।   सलूजा ने तंज कसते हुए कहा कि उनकी इस मंशा को उन्हीं की मंत्री इमरती देवी कुछ दिन पूर्व ही जगज़ाहिर चुकी है कि सत्ता सरकार जिस कलेक्टर को कहेगी, वह हमें चुनाव जितवा देंगे। वैसे भी शिवराज सरकार के बारे में खुद भाजपाई ही कहते हैं कि अधिकारियों के भरोसे चलने वाली सरकार है। अब यही शिवराज सरकार अधिकारियों के बल पर चुनाव जीतना चाहती है, अपने मनपसंद-चहेते, भाजपा का बिल्ला जेब में रखने वाले अधिकारियों की उपचुनाव वाले क्षेत्रों में पोस्टिंग की जा रही है ताकि इनके माध्यम से चुनाव जीता जा सके, अपने पक्ष में फैसले कराये जा सके।   कांग्रेस नेता ने चेतावनी भरे लहजे में कहा कि कांग्रेस इस मामले में चुप नहीं बैठेगी, वह चुनाव आयोग से लेकर न्यायालय तक का दरवाजा खटखटायेगी। कांग्रेस चुनाव आयोग से भी माँग करेगी कि मध्यप्रदेश में आगामी उपचुनावों को देखते हुए तत्काल स्थानांतरण पर रोक लगाई जाए व विगत एक माह में जितने भी स्थानांतरण हुए हैं, उन सभी को तत्काल निरस्त किया जाए व उपचुनावों वाले क्षेत्रों में निष्पक्ष व ईमानदार छवि वाले अधिकारियों की पोस्टिंग की जावे जिससे निष्पक्ष चुनाव हो व जनादेश का अपमान ना हो।

Dakhal News

Dakhal News 25 September 2020


bhopal,Decision , dates of Madhya Pradesh ,by-elections ,held on September 29

भोपाल। निर्वाचन आयोग द्वारा शुक्रवार को बिहार विधानसभा चुनावों की तारीखों का ऐलान कर दिया है। उम्मीद थी कि बिहार चुनाव के साथ-साथ मध्यप्रदेश में विधानसभा की रिक्त 28 सीटों पर होने वाले उपचुनावों की तारीख भी घोषित कर दी जाएगी, लेकिन ऐसा हुआ नहीं। निर्वाचन आयोग ने कहा है कि 29 सितम्बर को होने वाली बैठक में मध्यप्रदेश के साथ ही अन्य राज्यों के उपचुनावों की तारीखों पर फैसला किया जाएगा।   गौरतलब है कि मध्यप्रदेश में विधानसभा की 28 सीटें रिक्त हैं, जिन पर उपचुनाव होना है। राज्य की दोनों प्रमुख पार्टियां उपचुनाव की तैयारियों में जुटी हैं। भाजपा जहां अपनी सत्ता बरकरार रखने के लिए सदस्यता अभियान चला रही है, वहीं कांग्रेस भी दोबारा सत्ता में आने के लिए जिताऊ उम्मीदवारों की खोज कर रह ीहै। इधर, निर्वाचन आयोग ने भी प्रदेश में उपचुनाव की तैयारियां शुरू कर दी हैं और अधिकारियों को चुनाव संबंधी प्रशिक्षण भी दिया जा रहा है। इसी बीच संभावना जताई जा रही थी कि शुक्रवार को बिहार चुनाव की तारीखों के साथ मध्यप्रदेश के उपचुनावों की तारीख भी घोषित हो सकती है, लेकिन मुख्य निर्वाचन आयुक्त सुनील अरोरा ने बिहार चुनाव की तारीख घोषित करते हुए कहा कि अन्य राज्यों की 64 विधानसभा सीटों और एक लोकसभा सीट पर उपचुनाव को लेकर आगामी 29 सितंबर को रिव्यू मीटिंग होगी और उसके बाद यहां उपचुनाव की तारीख घोषित की जाएगी।   दरअसल, इसी साल 10 मार्च को पूर्व केन्द्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया के साथ कांग्रेस के 22 विधायक इस्तीफा देकर भाजपा में शामिल हो गए थे और इसके बाद तत्कालीन कमलनाथ सरकार गिर गई थी। कांग्रेस विधायकों के इस्तीफा देने से 22 सीटें खाली हो गई थीं। इसके बाद जुलाई में बड़ा मलहरा से कांग्रेस विधायक प्रद्युम्न सिंह लोधी और नेपानगर से कांग्रेस विधायक सुमित्रा देवी कसडेकर भी कांग्रेस छोड़ भाजपा में शामिल हो गई थी। इसके अलावा मांधाता विधायक भी कांग्रेस छोड़ भाजपा में आ गए, जबकि तीन विधायकों का निधन हो गया। इस तरह प्रदेश विधानसभा की कुल 28 सीटें रिक्त हैं। इनमें से 25 कांग्रेस विधायकों के इस्तीफा देने के कारण रिक्त हुई हैं।    मध्यप्रदेश की 230 सीटों वाली विधानसभा में अभी भाजपा के पास 107 विधायक हैं, जबकि कांग्रेस 88, बसपा दो, सपा एक और चार निर्दलीय हैं। अभी 28 सीटें रिक्त होने के कारण भाजपा के पास बहुमत है और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह के नेतृत्व में सरकार काम कर रही है। उपचुनाव के बाद बहुमत का जादूई आंकड़ा 216 होगा और उपचुनाव में जो पार्टी इस आंकड़े को छुएगी, उसकी सरकार बन जाएगी।

Dakhal News

Dakhal News 25 September 2020


bhopal, I see, strong future,Madhya Pradesh, India in children,CM Shivraj

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शुक्रवार को राजधानी भोपाल के मिंटो हॉल में आयोजित कार्यक्रम में प्रतिभाशाली विद्यार्थी प्रोत्साहन योजना 2020 के अंतर्गत सिंगल क्लिक के माध्यम से प्रदेश के 40 हजार से अधिक मेधावी विद्यार्थियों को लैपटॉप के लिए बैंक खातों में राशि ट्रांसफर की और कुछ विद्यार्थियों को प्रतीकात्मक रूप से हितलाभ सौंपे। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि मैं अपने भांजे-भांजियों से जब भी मिलता हूं, तो मन आनंद और प्रसन्नता से भर जाता है। मेरे बच्चों जब भी मैं आपको देखता हूं, तो मुझे भविष्य का सशक्त मध्यप्रदेश और भारत दिखाई देता है।   मुख्यमंत्री ने कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि कांग्रेस ने प्रतिभाशाली छात्र प्रोत्साहन योजना के अंतर्गत लैपटॉप वितरण योजना को बंद कर दिया था। आज पंडित दीनदयाल उपाध्याय जी की जयंती के शुभ अवसर पर हम इस योजना का पुन: शुभारम्भ कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि व्यक्ति जैसा सोच लेता है, वह वैसा ही बन जाता है। दुनिया में ऐसा कोई कार्य नहीं है जो मनुष्य न कर सके। बड़े-बड़े कार्य आखिर मनुष्यों ने ही तो किये हैं। यदि हम यह सोच कर बैठ जाएं कि यह कार्य तो कठिन है, मैं कर ही नहीं सकता, तो फिर कुछ भी संभव नहीं होता।   उन्होंने कहा कि हमारे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी गरीब घर में पैदा हुए। वे बचपन से ही दयालु थे। उनके मन में कुछ अलग करने की ललक थी। उन्होंने हिमालय पर्वत पर तपस्या की और वहाँ जनता की सेवा करने का निर्णय लिया। दुनिया में जन्म लिया है तो केवल रोने-गाने के लिए नहीं लिया, कुछ अलग और दूसरों से बेहतर करने के लिए लिया है। हमें सफल तो होना ही है, साथ ही साथ समाज की बेहतरी के लिए भी कुछ करना है। आप बड़े से बड़े कार्य सम्पन्न करें, मेरी शुभकामनाएँ आपके साथ हैं। आपकी मदद के लिए मेरी सरकार भी सदैव आपके साथ है। कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने हितग्राही मेधावी बच्चों से संवाद भी किया।   गौरतलब है कि मध्यप्रदेश में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा एमपी बोर्ड की कक्षा 12वीं  परीक्षा में 75 फीसदी से अधिक अंक लाने वाले बच्चों के लिए प्रतिभाशाली विद्यार्थी प्रोत्साहन योजना योजना शुरू की थी, जिसे पूर्ववर्ती कांग्रेस की कमलनाथ सरकार द्वारा बंद कर दिया गया था। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा इस योजना को फिर से शुरू किया गया और शुक्रवार को पंडित दीनदयाल उपाध्याय जी की जयंती के अवसर पर कक्षा 12वीं में 80 फीसदी से अधिक अंक लाने वाले 40, 436 विद्यार्थियों के खातों में लैपटॉप खरीदने के लिए 25-25 हजार रुपये की राशि ट्रांसफर की।

Dakhal News

Dakhal News 25 September 2020


bhopal, statement , Energy Minister, Congress retaliated

  भोपाल। प्रदेश के ऊर्जा मंत्री प्रद्युमन सिंह तोमर के बयान ने जुबानी जंग तेज कर दी है। मध्यप्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष के मीडिया समन्वयक नरेंद्र सलूजा ने उनके बयान पर पलटवार करते हुए कहा है कि यदि सिंधिया समर्थक छह मंत्रियों का पूर्व का और वर्तमान कार्यकाल का लेखा-जोखा खोल दिया जाए तो भ्रष्टाचार के कारण यह सारे तो जेल में होंगे ही, साथ ही इनकी भ्रष्टाचार की मोटी कमाई में हिस्सा लेने वाले इनके आका भी जेल में होंगे।   दरअसल मंत्री प्रद्युमन सिंह ने अपने एक बयान में पूर्ववर्ती कमलनाथ सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा था कि 15 महीने की कांग्रेस सरकार का लेखा-जोखा खोल दिया गया तो जो बाहर है, वह जेल में होंगे। इसी बयान पर पलटवार करते हुए सलूजा ने कहा कि यह तो कमलनाथ का बड़प्पन है कि उन्होंने नाकाबिल होते हुए भी सिंधिया समर्थकों को मंत्रिमंडल में स्थान दिया। पूरा प्रदेश जानता है कमलनाथ सरकार में खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री प्रद्युमन तोमर अपने विभाग का काम छोड़ आए दिन कहीं भी नाली- गटर में उतर कर फ़ोटो सेशन करते हुए दिखायी देते थे। आए दिन फोटो बाजी के लिए झाड़ू हाथ में पकड़ कर नौटंकी किया करते थे।   उन्होंने तंज कसते हुए कहा कि सिंधिया समर्थक कोई मंत्री गणतंत्र दिवस की परेड में मुख्यमंत्री का संदेश तक नहीं पढ़ पाता था, किसी पर उनके स्टाफ के मार्फत भ्रष्टाचार के आरोप लगते थे, किसी पर खुद सिंधिया समर्थक विधायक ही बेटे के मार्फत रिश्वत लेकर काम करने के आरोप लगाते थे। ऐसे कई किस्से इन मंत्रियों के भ्रष्टाचार के सार्वजनिक हैं। सलूजा ने कहा कि यदि इनके पूर्व की और वर्तमान कार्यकाल की ठीक ढंग से जांच हो जाए और लेखा-जोखा सामने लाया जाए तो यह खुद तो जेल में होंगे, साथ ही इनके आका, जिनको यह भ्रष्टाचार की काली कमाई का हिस्सा भेजते थे, वह भी जेल में होंगे।   सलूजा ने कहा कि जो तोमर यह कह रहे हैं कि सिंधिया का चेहरा दिखा कर कांग्रेस ने सरकार बनाई तो वह यह सच्चाई भी बता दें आखिर इतना अच्छा चेहरा खुद अपने प्रतिनिधि से लाखों वोटों से चुनाव कैसे हार गया और अभी उसी चेहरे को दिखाकर वे चुनाव लड़ ले, उस चेहरे की सारी सच्चाई सामने आ जाएगी।  

Dakhal News

Dakhal News 23 September 2020


bhopal,Crop insurance scheme , new format, interest of farmers, Chief Minister

  भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बुधवार को पुनासा स्थित स्टेडियम में विकास कार्यों के लोकार्पण व भूमिपूजन के कार्यक्रम में करोड़ों रुपये की सौगात देते हुए खंडवा जिले की मूंदी और किल्लोद नगर परिषद को तहसील का दर्जा देने की घोषणा की। मुख्यमंत्री ने संत सिंगाजी स्थल को प्रदेश का धार्मिक पर्यटन स्थल भी घोषित किया। इसके अलावा उन्होंने यहां अधोसंरचना के विकास के लिए 1 करोड़ 55 लाख रुपये भी देने की घोषणा की।    विकास कार्यों के भूमिपूजन व लोकार्पण कार्यक्रम को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि अब प्रदेश में फसल बीमा योजना एक नए स्वरूप में लाई जाएगी। पुनासा माइक्रो लिफ्ट इरिगेशन योजना का पुन: आकलन कर छूटे हुए गांवों को जोड़ा जाएगा। उन्होंने कहा कि प्रदेश में दीन-दुखियों और गरीबों के लिए संबल योजना उनका हक है। इस वर्ष बारिश से प्रभावित हुई फसलों का ईमानदारी से सर्वें कराने के आदेश देते हुए कहा कि पर्याप्त राहत राशि की व्यवस्था की जाएगी।   190 हितग्राहियों को पीएम आवास की 1.90 करोड़ रुपये की किश्तमुख्यमंत्री ने कार्यक्रम में विभिन्न योजनाओं के हितग्राहियों को राशि और प्रमाण-पत्र वितरित किए। उन्होंने मूंदी नगर परिषद के 190 हितग्राहियों को प्रधानमंत्री आवास योजना की प्रथम किश्त के रूप में 1.90 करोड़ रुपये वितरित किये। इसके अलावा मुख्यमंत्री ने 44.77 करोड़ रुपये की लागत के 6 निर्माण कार्यों का भूमिपूजन और 13.8 करोड़ रुपये की लागत के 14 निर्माण कार्यों का लोकार्पण भी किया। मुख्यमंत्री ने मंच से विभिन्न योजनाओं में हितग्राहियों को हितलाभ, प्रमाण-पत्र एवं पात्रता पर्ची का वितरण भी किया।   कृषि मंत्री कमल पटेल ने लोकार्पण व भूमिपूजन कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि प्रदेश में अब सर्वांगीण विकास के लिए आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश की दिशा में कदम बढ़ाए गए हैं। अब सरकार द्वारा निरंतर लोक कल्याणकारी योजनाओं से नागरिकों को लाभांवित किया जा रहा है। कृषि मंत्री ने कहा कि आरबीसी 6/4 के अंतर्गत बारिश से प्रभावित फसलों की राहत राशि किसानों को प्रदान की जाएगी। कार्यक्रम को क्षेत्रीय सांसद  नंदकुमारसिंह चौहान ने भी संबोधित किया।   

Dakhal News

Dakhal News 23 September 2020


bhopal, 30 thousand posts, recruited in MP, Chief Minister, gave instructions

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बुधवार सुबह अपने निवास पर हुई बैठक में गृह, राजस्व, लोक निर्माण, जेल, शिक्षा और अन्य विभागों में रिक्त पदों को भरने की कार्रवाई तत्काल प्रारंभ करने के निर्देश दिए हैं। शिक्षकों के लगभग 20 हजार और अन्य विभागों के 10 हजार पद मिलाकर लगभग 30 हजार पदों के लिए भर्ती अनुमानित है।   मुख्यमंत्री निवास पर हुई बैठक में सीएम शिवराज ने कहा कि जनकल्याणकारी कार्यों के सुचारू संचालन के लिए विभागों में खाली पड़े पदों को भरने की कार्यवाही पूर्ण की जाए। इस संबंध में प्रोफेशनल एग्जामिनेशन बोर्ड, लोक सेवा आयोग और विभागीय स्तर पर की जाने वाली कार्यवाही संपादित की जाए। मुख्यमंत्री ने पदों की भर्ती के संबंध में विभागीय स्तर पर भी समीक्षा कर समग्र रूप से संपूर्ण प्रक्रिया अपनाए जाने के निर्देश दिए।   भर्ती में नियम प्रक्रिया का पालन सुनिश्चित किया जाए   मुख्यमंत्री ने कहा कि रिक्त पदों की पूर्ति के संबंध में आवश्यक नियमों और प्रक्रियाओं के पालन का ध्यान रखते हुए प्रक्रिया पूरी की जाए। एक अनुमान के अनुसार करीब 10 हजार पदों के लिए पीईबी द्वारा आगामी महीनों में परीक्षाएं आयोजित की जाएंगी। इन पदों में गृह विभाग के अंतर्गत पुलिस आरक्षक के 3272 पद, किसान कल्याण तथा कृषि विकास विभाग में ग्रामीण कृषि विस्तार अधिकारी और वरिष्ठ कृषि विकास अधिकारी के 863 पद, गृह विभाग में आरक्षक रेडियो संवर्ग के 493 पद, राजस्व निरीक्षक के 372 पद, कौशल संचालनालय में आईटीआई प्रशिक्षण अधिकारी के 302 पद शामिल हैं। इसके अलावा विभिन्न विभागों में शीघ्र लेखक, सहायक ग्रेड-3, स्टेनो टायपिस्ट, स्टेनोग्राफर, डाटा एंट्री ऑपरेटर, सांख्यिकी अधिकारी और भृत्य, चौकीदार, वार्ड बाय, क्लीनर, वाटरमेन कुक जैसे पदों की भर्ती की जाएगी।   परीक्षाओं के आयोजन की तैयारी जारी   बैठक में बताया गया कि प्राथमिक शाला शिक्षक पात्रता परीक्षा दिसम्बर 2020 में प्रस्तावित है। वर्तमान में पीईबी की ओर से तकनीकी शिक्षा संचालनालय, पशुपालन विभाग और कृषि विभाग की विभिन्न परीक्षाओं के आयोजन की तैयारी भी की जा रही है। ये परीक्षाएं अकादमिक सत्र के अनुसार अक्टूबर और नवम्बर 2020 में प्रस्तावित हैं। इन पदों के लिए बड़ी संख्या में आवेदन पत्र प्राप्त हुए हैं। सिर्फ शिक्षकों के लिए ही 6.57 लाख आवेदन-पत्र इस वर्ष प्राप्त हुए हैं। बैठक में मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस, कृषि उत्पादन आयुक्त केके सिंह, मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव मनीष रस्तोगी, जनसंपर्क आयुक्त डॉ. सुदाम खाडे सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

Dakhal News

Dakhal News 23 September 2020


bhopal, Administrative service ,officials met, Chief Minister, demanding action

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से मंगलवार को उनके निवास पर प्रशासनिक सेवा संघ के पदाधिकारियों ने भेंट की। प्रशासनिक सेवा संघ के पदाधिकारियों ने मुख्यमंत्री चौहान से आग्रह किया कि छिंदवाड़ा में एस.डी.एम. सी.पी. पटेल पर किए गए हमले में लिप्त व्यक्तियों के विरूद्ध कठोर कार्रवाई की जाए।    पदाधिकारियों ने मुख्‍यमंत्री से यह भी आग्रह किया कि एसडीएम पटेल को आवश्यक सहायता एवं सुरक्षा प्रदान की जाए। साथ ही ऐसी घटनाओं को रोकने के लिए ए.डी.एम. और एस.डी.एम. को सशस्त्र गार्ड एवं समस्त कार्यपालक मजिस्ट्रेट के लिए गार्ड की व्यवस्था की जाए। प्रशासनिक अधिकारियों ने घटना के विरोध में 19 से 21 सितम्बर तक हड़ताल अवधि का सामूहिक अवकाश प्रदान करने का आग्रह किया। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि प्रशासनिक सेवा और कार्यपालक मजिस्ट्रेट का दायित्व निभा रहे लोगों की सुरक्षा व्यवस्था को सुदृढ़ करने के लिए आवश्यक कदम उठाए जाएंगे।

Dakhal News

Dakhal News 22 September 2020


bhopal, Shivraj and Scindia, apologize,lying  loan waiver ,farmers, Kamal Nath

भोपाल। प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस सरकार द्वारा किसानों की ऋण माफी पर पहले दिन से ही मुख्यमंत्री शिवराज सिंह और कांग्रेस छोडक़र भाजपा में गए ज्योतिरदित्य सिंधिया झूठ बोलते रहे हैं। इस झूठ की राजनीति का पर्दाफाश स्वयं शिवराज सरकार ने कल विधानसभा में कर दिया है और स्वीकार किया कि प्रदेश में प्रथम और द्वितीय चरण में कांग्रेस की सरकार ने 51 जिलों में 26 लाख 95 हजार किसानों का 11 हजार 6 सौ करोड़ रुपये से अधिक का ऋण माफ किया है। उन्होंने सीएम शिवराज और सिंधिया से माफी मांगने की मांग करते हुए कहा कि प्रदेश की जनता से सफेद झूठ बोलने और गुमराह करने की घृणित राजनीति के लिए शिवराज सिंह और ज्योतिरादित्य सिंधिया को तत्काल प्रदेश की जनता से माफी मांगना चाहिए ।    कमलनाथ ने मंगलवार को जारी अपने एक बयान में कहा कि ग्वालियर दौरे के दौरान मैंने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह को किसानों की ऋण माफी के मुद्दे पर खुली बहस करने की चुनौती दी थी। वे इस मुद्दे पर खुली बहस करते, उसके पहले ही उनकी सरकार ने विधानसभा में स्वीकार कर लिया कि कांग्रेस सरकार ने 26 लाख 95 हजार किसानों का ऋण माफ किया था और स्वीकृति की प्रकिया में शेष पांच लाख नब्बे हजार किसानों की संख्या को भी स्वीकार किया है, जिसकी स्वीकृति मेरी सरकार के समय की जा रही थी। पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि सदन के पटल पर जो सच्चाई भाजपा सरकार ने स्वीकार की है, इससे  शिवराज सिंह व भाजपा की झूठ की राजनीति का पर्दाफाश हो चुका है और मेरे द्वारा पहले दिन से ही किसान ऋण माफी की जो संख्या और सूची दी जा रही थी, वह अंतत: सच साबित हुई है।   कमलनाथ ने कहा कि मैं शुरू से ही यह कहता आ रहा हूं कि भाजपा चाहे जितना झूठ बोल ले लेकिन जो सच्चाई है, वह इस प्रदेश की जनता जानती है और हमारे किसान भाई इसके गवाह हैं। इसी सच्चाई को सदन में भाजपा सरकार के कृषि मंत्री ने लिखित में स्वीकार भी किया है। इस सच्चााई को स्वीकार करने के बाद शिवराज सरकार को शेष किसानों की ऋण माफी की प्रक्रिया को शीघ्र शुरू करना चाहिये। उन्होंने कहा कि विधानसभा में जो बहाना ऋण माफी योजना की समीक्षा का बनाया गया है, वह यह बताता है कि भाजपा और शिवराज सिंह किसानों के विरोधी हैं। कांग्रेस सरकार ने ऋण माफी की जो योजना बनाई थी, वह पूर्णत: विचार विमर्श के बाद ही तैयार की गई थी, जिसकी समीक्षा करने की कोई गुंजाइश नहीं बचती है। शिवराज सरकार कोई समय-सीमा भी बताने को तैयार नहीं है, इससे यह स्पष्ट होता है कि वे किसानों की कर्ज माफी करना ही नहीं चाहते।   पूर्व मुख्यमंत्री ने तंज कसते हुए कहा कि किसानों के साथ हमेशा से भाजपा छलावा करती रही है। उनके वोट पाने के लिए झूठे सब्जबाग दिखाकर भाजपा को किसानों को धोखा दिया है। यही कारण है कि मध्यप्रदेश में भाजपा सरकार में इतनी बड़ी संख्या में किसान आत्महत्या को मजबूर हुए। उन्होंने कहा कि हाल ही में संसद में गैर संवैधानिक तरीके से जो कृषि विधेयक पास हुए है, उससे भी स्पष्ट हो गया है कि भाजपा मूलत: किसान विरोधी है, वह किसानों का भला नहीं चाहती है।

Dakhal News

Dakhal News 22 September 2020


bhopal, Shivraj and Scindia, apologize,lying  loan waiver ,farmers, Kamal Nath

भोपाल। प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस सरकार द्वारा किसानों की ऋण माफी पर पहले दिन से ही मुख्यमंत्री शिवराज सिंह और कांग्रेस छोडक़र भाजपा में गए ज्योतिरदित्य सिंधिया झूठ बोलते रहे हैं। इस झूठ की राजनीति का पर्दाफाश स्वयं शिवराज सरकार ने कल विधानसभा में कर दिया है और स्वीकार किया कि प्रदेश में प्रथम और द्वितीय चरण में कांग्रेस की सरकार ने 51 जिलों में 26 लाख 95 हजार किसानों का 11 हजार 6 सौ करोड़ रुपये से अधिक का ऋण माफ किया है। उन्होंने सीएम शिवराज और सिंधिया से माफी मांगने की मांग करते हुए कहा कि प्रदेश की जनता से सफेद झूठ बोलने और गुमराह करने की घृणित राजनीति के लिए शिवराज सिंह और ज्योतिरादित्य सिंधिया को तत्काल प्रदेश की जनता से माफी मांगना चाहिए ।    कमलनाथ ने मंगलवार को जारी अपने एक बयान में कहा कि ग्वालियर दौरे के दौरान मैंने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह को किसानों की ऋण माफी के मुद्दे पर खुली बहस करने की चुनौती दी थी। वे इस मुद्दे पर खुली बहस करते, उसके पहले ही उनकी सरकार ने विधानसभा में स्वीकार कर लिया कि कांग्रेस सरकार ने 26 लाख 95 हजार किसानों का ऋण माफ किया था और स्वीकृति की प्रकिया में शेष पांच लाख नब्बे हजार किसानों की संख्या को भी स्वीकार किया है, जिसकी स्वीकृति मेरी सरकार के समय की जा रही थी। पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि सदन के पटल पर जो सच्चाई भाजपा सरकार ने स्वीकार की है, इससे  शिवराज सिंह व भाजपा की झूठ की राजनीति का पर्दाफाश हो चुका है और मेरे द्वारा पहले दिन से ही किसान ऋण माफी की जो संख्या और सूची दी जा रही थी, वह अंतत: सच साबित हुई है।   कमलनाथ ने कहा कि मैं शुरू से ही यह कहता आ रहा हूं कि भाजपा चाहे जितना झूठ बोल ले लेकिन जो सच्चाई है, वह इस प्रदेश की जनता जानती है और हमारे किसान भाई इसके गवाह हैं। इसी सच्चाई को सदन में भाजपा सरकार के कृषि मंत्री ने लिखित में स्वीकार भी किया है। इस सच्चााई को स्वीकार करने के बाद शिवराज सरकार को शेष किसानों की ऋण माफी की प्रक्रिया को शीघ्र शुरू करना चाहिये। उन्होंने कहा कि विधानसभा में जो बहाना ऋण माफी योजना की समीक्षा का बनाया गया है, वह यह बताता है कि भाजपा और शिवराज सिंह किसानों के विरोधी हैं। कांग्रेस सरकार ने ऋण माफी की जो योजना बनाई थी, वह पूर्णत: विचार विमर्श के बाद ही तैयार की गई थी, जिसकी समीक्षा करने की कोई गुंजाइश नहीं बचती है। शिवराज सरकार कोई समय-सीमा भी बताने को तैयार नहीं है, इससे यह स्पष्ट होता है कि वे किसानों की कर्ज माफी करना ही नहीं चाहते।   पूर्व मुख्यमंत्री ने तंज कसते हुए कहा कि किसानों के साथ हमेशा से भाजपा छलावा करती रही है। उनके वोट पाने के लिए झूठे सब्जबाग दिखाकर भाजपा को किसानों को धोखा दिया है। यही कारण है कि मध्यप्रदेश में भाजपा सरकार में इतनी बड़ी संख्या में किसान आत्महत्या को मजबूर हुए। उन्होंने कहा कि हाल ही में संसद में गैर संवैधानिक तरीके से जो कृषि विधेयक पास हुए है, उससे भी स्पष्ट हो गया है कि भाजपा मूलत: किसान विरोधी है, वह किसानों का भला नहीं चाहती है।

Dakhal News

Dakhal News 22 September 2020


bhopal, Narottam

भोपाल। किसानों से जुड़े बिल को लेकर विपक्ष विरोध का रूख अपनाए हुए है। विपक्ष का विरोध इस बिल को लेकर कम होने का नाम नहीं ले रहा। वहीं दूसरी ओर राज्यसभा से निलंबित आठ सांसदों का मामला भी तूल पकड़ चुका है। निलंबित सांसद सोमवार से संसद परिसर के गांधी प्रतिमा के पास धरने पर बैठे हुए हैं। राज्यसभा में कांग्रेस के हंगामे पर प्रदेश के गृृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कटाक्ष किया है।   मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने मंगलवार को मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि कृषि बिल संशोधन पर राज्यसभा में कांग्रेस सांसदों के हंगामे पर कहा कि संसद में पारित किए गए कृषि सुधार के नए कानून को लेकर एक बार फिर कांग्रेस का दोहरा चरित्र सामने आया है, ऐसा ही जीएसटी के समय में भी था। इस संबंध में कपिल सिब्बल के भाषण का वायरल हो रहा वीडियो इसका स्पष्ट उदाहरण है। उन्होंने कहा कि पीएम मोदी ने स्पष्ट कहा है कि किसानों की आय दोगुनी करनी है। देश की सबसे बड़ी आबादी किसान की है, पीएम ने जो कदम उठाया है वो राष्ट्रहित में है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी किसानों की आय बढ़ाने के लिए कृतसंकल्पित हैं।   सचिन और प्रियंका पर साधा निशाना इस दौरान उपचुनाव में कांग्रेस के लिए सचिन पायलट और प्रियंका गांधी के ग्वालियर- चंबल में प्रचार में उतरने पर मंत्री मिश्रा ने कहा कि कांग्रेस किसी को भी बुला सकती है। जनता समझ चुकी है कि कांग्रेस के पास ना नेता है और न नीयत।   छिंदवाड़ा में एसडीएम के साथ हुई घटना दुर्भाग्यपूर्ण छिंदवाड़ा में एसडीएम के साथ हुई घटना के बाद एसडीएम और तहसीलदार की हड़ताल पर गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि एसडीएम के साथ जो हुआ दुर्भाग्यपूर्ण था, कांग्रेस को इस तरह के दुराग्रह से बचना चाहिए। कांग्रेस पर तंज कसते हुए उन्होंने कहा कि आज विपक्ष में आने पर कांग्रेस की हालत खिसियानी बिल्ली खंभा नोचे जैसी हो गई है। कांग्रेस के लोगों को ऐसा अमर्यादित आचरण नहीं करना चाहिए।  

Dakhal News

Dakhal News 22 September 2020


bhopal,Center better, than other states, MP Corona case,Shivraj

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सोमवार को विधानसभा में प्रदेश में कोरोना की स्थिति की जानकारी देते हुए बताया कि मध्यप्रदेश में कोरोना के विरूद्ध जंग में युद्ध स्तर पर कार्य हुआ है, जिसके फलस्वरूप आज की तारीख में मध्यप्रदेश में कोविड संक्रमित मरीजों के स्वस्थ होने की दर 77.30 हो गयी है।    मुख्यमंत्री ने बताया कि 1 मई को यह दर मात्र 19.03 थी। प्रदेश में 23 मार्च 2020 को टेस्टिंग क्षमता मात्र 300 टेस्ट प्रतिदिन थी, इसमें से सिर्फ 60 टेस्ट रोजाना हो पाते थे। अब प्रदेश की टेस्टिंग क्षमता 29 हजार 780 टेस्ट प्रतिदिन है। यहीं नही 3 लैब से बढ़कर हम 78 क्रियाशील लैब स्थापित कर चुके हैं। प्रदेश में 852 फीवर क्लीनिक कार्य कर रहे हैं। फीवर क्लीनिक में सैम्पल कलेक्शन की व्यवस्था की गयी है। उन्‍होंने कोरोना के विरूद्ध निणार्यक जंग में विपक्ष के सहयोग की भी अपेक्षा की। चौहान ने कहा कि हम सब मिलकर इस महामारी से लड़ें और इसे परास्त करें। वैसे तो मध्यप्रदेश की स्थिति भारत के कई राज्यों से बेहतर है, फिर भी सभी से अपेक्षा है कि सावधानियों का पालन करें, सतर्क रहें, घरों से बहुत आवश्यक कार्य पर ही बाहर निकलें और प्रोटोकॉल के पालन में सरकार का सहयोग करें। मुख्यमंत्री कोविड योद्धा कल्याण योजना में 20 प्रकरणों में योद्धाओं के परिवारों को आर्थिक सहायता राशि दी गई।   मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में लॉकडाउन से लेकर अनलॉक के पिछले 6 माह में संक्रमण को काफी हद तक नियंत्रित करने में सफलता मिली है। प्रदेश में इस समय करीब 22 हजार एक्टिव केस हैं, जो कुल प्रकरणों का 20 प्रतिशत है। इन प्रकरणों के लिहाज से मध्यप्रदेश देश में 16वें स्थान पर है। प्रदेश की स्थिति में निरंतर सुधार हुआ है। अस्पतालों में बिस्तर क्षमता भी बढ़ाई गयी। सामान्य बैड जो 2428 थे, अब 24 हजार 560 हैं। इसी तरह आईसीयू और आईसोलेशन बैड भी बढ़े हैं। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि वे गत 6 माह से प्रतिदिन कोराना नियंत्रण की समीक्षा कर रहे हैं।    चौहान ने बताया कि मध्यप्रदेश में 20 टन ऑक्सीजन की आपूर्ति महाराष्ट्र से है। प्रदेश में 50 टन ऑक्सीजन उपलब्ध थी, जिसे बढ़ाकर 120 टन किया गया है। यह क्षमता 30 सितम्बर तक 150 टन हो जायेगी। भारत सरकार के सहयोग से प्रतिदिन 50 टन अतिरिक्त ऑक्सीजन उपलब्ध हुई है। होशंगाबाद जिले में 200 टन क्षमता का ऑक्सीजन संयंत्र लगाने की कार्यवाही प्रारंभ की गई है।   उन्‍होंने बताया कि जन-जागरूकता के लिये प्रदेश में जुलाई और अगस्त माह में 'किल-कोरोना' महाअभियान दो चरणों में चलाया गया। इसके पश्चात 'सहयोग से सुरक्षा' अभियान शुरू किया गया, जिसके अंतर्गत 1. सुरक्षा उपायों को बढ़ावा देने, 2. परिवर्तित व्यवहार को स्थायी बनाने, 3. भ्रामक जानकारी का खण्डन करने, 4. जनसहयोग प्राप्त करने और 5. संक्रमित व्यक्ति को भेदभाव से बचाने के पाँच मंत्रों को अपनाकर उन पर अमल किया जा रहा है। पूरे प्रदेश में 'एक मास्क-अनेक जिंदगी अभियान' में मास्क वितरण का कार्य किया जाता है। प्रदेश के करीब 53 प्रतिशत रोगी घरों में होम आइसोलेशन के अंतर्गत उपचार ले रहें हैं।    मुख्‍यमंत्री ने कहा कि इंदौर में 27 अगस्त 2020 को 237 करोड़ लागत से 402 बिस्तर क्षमता का सुपर स्पेशलिटी अस्पताल का लोकार्पण किया गया है। वैकल्पिक चिकित्सा का उपयोग करते हुए, करीब 4 करोड़ लोगों तक आयुर्वेदिक, होम्योपैथिक और यूनानी दवाओं के साथ ही आयुर्वेदिक काढ़ा पहुँचाने का कार्य किया गया है। चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश सरकार की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने की इस पहल की केन्द्र सरकार ने भी सराहना की है। प्रदेश में 362 आयुष वैलनेस सेंटर और 45 नये आयुष ग्रामों को मंजूरी दी गयी है। आर्थिक गतिविधियों और आगामी त्यौहारों को ध्यान में रखते हुए राज्य सरकार ने समय-समय पर गाइड लाइन जारी की हैं। परस्पर दूरी रखने, मास्क के उपयोग और बार-बार साबुन से हाथ धोने की सलाह लोगों को विभिन्न माध्यमों से निरंतर दी जा रही है, ताकि संक्रमण को पूरी तरह रोका जा सके।

Dakhal News

Dakhal News 21 September 2020


bhopal,Center better, than other states, MP Corona case,Shivraj

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सोमवार को विधानसभा में प्रदेश में कोरोना की स्थिति की जानकारी देते हुए बताया कि मध्यप्रदेश में कोरोना के विरूद्ध जंग में युद्ध स्तर पर कार्य हुआ है, जिसके फलस्वरूप आज की तारीख में मध्यप्रदेश में कोविड संक्रमित मरीजों के स्वस्थ होने की दर 77.30 हो गयी है।    मुख्यमंत्री ने बताया कि 1 मई को यह दर मात्र 19.03 थी। प्रदेश में 23 मार्च 2020 को टेस्टिंग क्षमता मात्र 300 टेस्ट प्रतिदिन थी, इसमें से सिर्फ 60 टेस्ट रोजाना हो पाते थे। अब प्रदेश की टेस्टिंग क्षमता 29 हजार 780 टेस्ट प्रतिदिन है। यहीं नही 3 लैब से बढ़कर हम 78 क्रियाशील लैब स्थापित कर चुके हैं। प्रदेश में 852 फीवर क्लीनिक कार्य कर रहे हैं। फीवर क्लीनिक में सैम्पल कलेक्शन की व्यवस्था की गयी है। उन्‍होंने कोरोना के विरूद्ध निणार्यक जंग में विपक्ष के सहयोग की भी अपेक्षा की। चौहान ने कहा कि हम सब मिलकर इस महामारी से लड़ें और इसे परास्त करें। वैसे तो मध्यप्रदेश की स्थिति भारत के कई राज्यों से बेहतर है, फिर भी सभी से अपेक्षा है कि सावधानियों का पालन करें, सतर्क रहें, घरों से बहुत आवश्यक कार्य पर ही बाहर निकलें और प्रोटोकॉल के पालन में सरकार का सहयोग करें। मुख्यमंत्री कोविड योद्धा कल्याण योजना में 20 प्रकरणों में योद्धाओं के परिवारों को आर्थिक सहायता राशि दी गई।   मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में लॉकडाउन से लेकर अनलॉक के पिछले 6 माह में संक्रमण को काफी हद तक नियंत्रित करने में सफलता मिली है। प्रदेश में इस समय करीब 22 हजार एक्टिव केस हैं, जो कुल प्रकरणों का 20 प्रतिशत है। इन प्रकरणों के लिहाज से मध्यप्रदेश देश में 16वें स्थान पर है। प्रदेश की स्थिति में निरंतर सुधार हुआ है। अस्पतालों में बिस्तर क्षमता भी बढ़ाई गयी। सामान्य बैड जो 2428 थे, अब 24 हजार 560 हैं। इसी तरह आईसीयू और आईसोलेशन बैड भी बढ़े हैं। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि वे गत 6 माह से प्रतिदिन कोराना नियंत्रण की समीक्षा कर रहे हैं।    चौहान ने बताया कि मध्यप्रदेश में 20 टन ऑक्सीजन की आपूर्ति महाराष्ट्र से है। प्रदेश में 50 टन ऑक्सीजन उपलब्ध थी, जिसे बढ़ाकर 120 टन किया गया है। यह क्षमता 30 सितम्बर तक 150 टन हो जायेगी। भारत सरकार के सहयोग से प्रतिदिन 50 टन अतिरिक्त ऑक्सीजन उपलब्ध हुई है। होशंगाबाद जिले में 200 टन क्षमता का ऑक्सीजन संयंत्र लगाने की कार्यवाही प्रारंभ की गई है।   उन्‍होंने बताया कि जन-जागरूकता के लिये प्रदेश में जुलाई और अगस्त माह में 'किल-कोरोना' महाअभियान दो चरणों में चलाया गया। इसके पश्चात 'सहयोग से सुरक्षा' अभियान शुरू किया गया, जिसके अंतर्गत 1. सुरक्षा उपायों को बढ़ावा देने, 2. परिवर्तित व्यवहार को स्थायी बनाने, 3. भ्रामक जानकारी का खण्डन करने, 4. जनसहयोग प्राप्त करने और 5. संक्रमित व्यक्ति को भेदभाव से बचाने के पाँच मंत्रों को अपनाकर उन पर अमल किया जा रहा है। पूरे प्रदेश में 'एक मास्क-अनेक जिंदगी अभियान' में मास्क वितरण का कार्य किया जाता है। प्रदेश के करीब 53 प्रतिशत रोगी घरों में होम आइसोलेशन के अंतर्गत उपचार ले रहें हैं।    मुख्‍यमंत्री ने कहा कि इंदौर में 27 अगस्त 2020 को 237 करोड़ लागत से 402 बिस्तर क्षमता का सुपर स्पेशलिटी अस्पताल का लोकार्पण किया गया है। वैकल्पिक चिकित्सा का उपयोग करते हुए, करीब 4 करोड़ लोगों तक आयुर्वेदिक, होम्योपैथिक और यूनानी दवाओं के साथ ही आयुर्वेदिक काढ़ा पहुँचाने का कार्य किया गया है। चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश सरकार की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने की इस पहल की केन्द्र सरकार ने भी सराहना की है। प्रदेश में 362 आयुष वैलनेस सेंटर और 45 नये आयुष ग्रामों को मंजूरी दी गयी है। आर्थिक गतिविधियों और आगामी त्यौहारों को ध्यान में रखते हुए राज्य सरकार ने समय-समय पर गाइड लाइन जारी की हैं। परस्पर दूरी रखने, मास्क के उपयोग और बार-बार साबुन से हाथ धोने की सलाह लोगों को विभिन्न माध्यमों से निरंतर दी जा रही है, ताकि संक्रमण को पूरी तरह रोका जा सके।

Dakhal News

Dakhal News 21 September 2020


bhopal, MLA Sunita Patel , protest assembly, demanding removal of ASP

भोपाल। विधानसभा का एक दिवसीय सत्र सोमवार सुबह शुरू हुआ, लेकिन सत्र शुरू होने से पहले ही नरसिंहपुर के गाडरवारा से कांग्रेस विधायक सुनीता पटेल गांधीगीरी दिखाते हुए विधानसभा परिसर में स्थापित गांधी की प्रतिमा के नीचे धरने पर बैठ गईं। विधायक सुनीता पटेल ने नरसिंहपुर जिले के एएसपी राजेश तिवारी के खिलाफ मोर्चा खोला है और उन्हें हटाने की मांग कर रही हैं।     अवैध खनन करवा रहे हैं एएसपी    विधायक सुनीता पटेल ने अपनी मांग के समर्थन में विधायक विश्रामगृह में भी पोस्टर लगाए हैं। उनका कहना है कि एएसपी राजेश तिवारी इलाके में अवैध खनन करवा रहे हैं। वे अपने पद का गलत फायदा उठा रहे हैं। ऐसे में उन्हें तत्काल प्रभाव से हटाया जाना चाहिए। समाचार लिखे जाने तक सुनीता धरने पर बैठी हुई थीं। अधिकारियों ने उन्हें समझाने का प्रयास किया, लेकिन वे नहीं मानी। जिसके बाद महिला पुलिस अधिकारी को विधायक की सुरक्षा के लिए लगाया गया है।

Dakhal News

Dakhal News 21 September 2020


bhopal,MP Legislative Assembly, Government work dealt , one hour proceedings, Bill passed

भोपाल। मध्यप्रदेश विधानसभा का एक दिवसीय सत्र सोमवार को शुरू हुआ और एक घंटे की कार्यवाही में शासकीय कार्य निपटाने के बाद सदन की कार्यवाही अनिश्चितकाल के लिए स्थगित कर दी गई। इस दौरान मंत्री उषा ठाकुर के जयस को लेकर दिये गए बयान पर विपक्ष ने जमकर हंगामा किया। हंगामे के बीच ही सरकार ने कई विधेयक पारित करा लिये। सदन में विपक्ष की मांग पर मुख्यमंत्री ने प्रदेश में कोरोना संक्रमण की स्थिति का ब्यौरा भी सदन में दिया।    कोरोना संकट के बीच सोमवार को मप्र विधानसभा का एक दिवसीय सत्र हुआ। विधानसभा पहुंचने के पहले विधानसभा अध्यक्ष रामेश्वर शर्मा, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, नेता प्रतिपक्ष कमलनाथ, संसदीय कार्यमंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा समेत सभी विधायकों की जांच की गई और हाथ सैनिटाइज कराने के बाद उन्हें प्रवेश दिया गया। सदन में सबसे पहले पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी, राज्यपाल लालजी टण्डन समेत अन्य दिवंगतों को श्रद्धांजलि अर्पित की गई, जिसके बाद विधानसभा अध्यक्ष ने पांच मिनट के लिए सदन की कार्यवाही स्थगित कर दी।   मध्यप्रदेश की पंद्रहवीं विधानसभा के इस सातवें एक दिवसीय सत्र की शुरुआत में सामयिक अध्यक्ष (प्रोटेम स्पीकर) रामेश्वर शर्मा ने पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी, तत्कालीन राज्यपाल लालजी टंडन, सदन के सदस्य मनोहर ऊंटवाल और गोवर्धन दांगी तथा पूर्व विधानसभा उपाध्यक्ष हजारीलाल रघुवंशी के निधन की विधिवत सूचना सदन को दी। साथ ही पूर्व विधायक डेरहू प्रसाद धृतलहरे और अन्य नेताओं के अलावा गलवान घाटी में चीनी सैनिकों के साथ संघर्ष में शहीद हुए जवानों, जम्मू कश्मीर के बारामूला में शहीद सैनिक और देश प्रदेश में कोरोना के कारण व्यक्तियों के निधन की सूचना दी और सदन की ओर से श्रद्धांजलि अर्पित की।   इसके अलावा सदन में पूर्व विधायक उदय सिंह पंड्या, चंपालाल देवड़ा, देवेंद्र कुमारी, बलिहार सिंह, बलबीर सिंह कुशवाह, घनश्याम प्रसाद जायसवाल, बूंदीलाल रावत, विमला शर्मा, मनमोहन शाह बट्टी, चिमनलाल सडाना, रमाकांत तिवारी, गणेशराम खटीक और बिंद्रा प्रसाद साकेत तथा छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी और पूर्व केंद्रीय मंत्री हंसराज भारद्वाज के निधन के उल्लेख के साथ उनके प्रति भी श्रद्धांजलि अर्पित की गई। सदन के नेता एवं मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सभी दिवंगतों का राजनैतिक, सामाजिक और देश सेवा के क्षेत्र में योगदान का जिक्र करते हुए सभी के प्रति श्रद्धांजलि अर्पित की। विपक्ष के नेता कमलनाथ ने अपनी और दल की ओर से सभी दिवंगतों को श्रद्धांजलि दी। इसके बाद सभी ने दो मिनट का मौन रखा और प्रोटेम स्पीकर रामेश्वर शर्मा ने दिवंगतों के सम्मान में कार्यवाही पांच मिनट के लिए स्थगित कर दी।   स्थगन के बाद जब सदन दोबारा समवेत हुआ, तो सबसे पहले संसदीय कार्य मंत्री ने आदेशों पत्रों को पटल पर रखा। अध्यक्ष ने विधानसभा की सदस्यता से त्यागपत्र देने वाले विधायकों, सदस्यों की सूचना सदन को दी। वित्त मंत्री की अनुपस्थिति में संसदीय कार्य मंत्री ने उनका कार्य संपादित किया। सबसे पहले धन विनियोग विधेयक सदन में प्रस्तुत किया गया। इस पर कांग्रेस ने चर्चा कराने की मांग की, लेकिन सरकार ने मना कर दिया। इसके बाद मध्यप्रदेश विनियोग विधेयक 2020 पारित हो गया। संसदीय कार्य मंत्री ने समस्त विभागों की अनुदान मांगों का प्रस्ताव एक साथ प्रस्तुत किया। इस पर कांग्रेस विधायक दल के मुख्य सचेतक गोविंद सिंह एवं नेता प्रतिपक्ष कमलनाथ ने चर्चा कराने का अनुरोध किया। जिसके जवाब में संसदीय कार्य मंत्री ने सर्वदलीय बैठक का उल्लेख किया और आपत्ति पर विचार न करते अनुदान मांगें पारित कर दी गईं।    इसके बाद मंत्री उषा ठाकुर द्वारा गत दिनों को लेकर दिये गये बयान को लेकर विपक्ष ने सदन में जमकर हंगामा किया। दरअसल, मंत्री ने जयस को देशद्रोही संगठन बता दिया था। सदन में पूर्व मंत्री सुरेंद्र सिंह बघेल हनी ने यह मुद्दा उठाया। सदन में हंगामें के बीच मध्यप्रदेश साहूकार संसोधन विधेयक 2020, अनुसूचित जनजाति ऋण विमुक्ति विधेयक 2020 पारित हो गए। संसदीय कार्यमंत्री ने प्रस्ताव प्रस्तुत किया कि सर्वदलीय बैठक निर्णय के अनुसार सदन कार्यवाही समाप्त की जाए। विधानसभा के सामयिक अध्यक्ष रामेश्वर शर्मा ने कार्यसूची में शामिल विषयों पर कार्यवाही पूर्ण होने पर सदन की कार्यवाही अनिश्चितकाल के लिए स्थगित कर दी। सदन की कार्यवाही करीब एक घंटे चली।   बता दें कि कोरोना के चलते इस तीन दिवसीय सत्र को महज एक दिन का किया गया है, जिसमें केवल शासकीय कार्य ही संपादित किए जाएंगे। सदन में कुल 202 विधायकों में से केवल 60 ही मौजूद रहे। इनमें 32 विधायक भाजपा, 22 कांग्रेस, दो बसपा, एक सपा और चार निर्दलीय शामिल हैं। वहीं, 141 विधायक अपने-अपने जिलों से वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से सदन की कार्यवाही में शामिल हुए।

Dakhal News

Dakhal News 21 September 2020


agar malwa, Recruitment , government departments ,soon in MP, Shivraj

आगरमालवा। मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने रविवार को आगरमालवा जिले के बड़ौद में कहा कि प्रदेश में जल्द ही पुलिस, शिक्षक और स्वास्थ्य विभाग की नौकरियों में भर्ती की प्रक्रिया शुरू की जायेगी जिससे शिक्षित बच्चें नौकरी में चयनित होकर, रोजगार प्राप्त कर सकें। वही कोरोना संकट दूर होते ही तीर्थदर्शन यात्रा रेल के माध्यम से फिर से चालू की जायेगी।  उन्होंने कांग्रेस को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि पिछली कांग्रेस सरकार ने वल्लभभवन को बेइमानों, भ्रष्टाचारियों व दलालो का अड्डा बना दिया था। उन्होने आगे कहा कि महिला सशक्तिकरण को बढ़ावा देने के लिए स्वहायता समूहों को चौदह सौ करोड़ रूपये दिये जायेगें। मुख्यमंत्री ने रविवार को आगरमालवा जिले के बड़ौद कृषि उपज मंडी में 7791.42 लाख रुपए के विकास कार्यां का भूमिपूजन एवं जनकल्याणकारी योजनाओं में हितलाभ वितरण कार्यक्रम में कहा कि प्रदेश सरकार किसान हितैषी है।  प्रदेश के 22 लाख किसानों के खाते में फसल बीमा की 4688 करोड़ रूपए की राशि जमा की गई है। जिन किसानों को बीमा राशि कम मिली है तथा बीमा कम्पनी के लाभ से संतुष्ट नहीं है, उनकी जांच करवाने के निर्देश भी जिला प्रशासन को दिए गए है। भावांतर की राशि भी सभी किसानों को भुगतान की जाएगी। कोरोना संक्रमण काल के चलते राज्य सरकार को टैक्स से मिलने वाली राशि नहीं आने से निश्चित रूप से आर्थिक सीमाएं हैं, किन्तु फिर भी किसानों के हित में किसी भी तरह की बाधा नहीं आने दी जायेगी। किसानों की फसल नुकसानी का मुआवजा एवं बीमा राशि का भुगतान करने के लिए राशि का प्रबंध कहीं से भी किया जाएगा। वर्तमान में किसानों की जो सोयाबीन फसल में नुकसान हुआ हैं,उसकी क्षति का भी शत्-प्रतिशत आंकलन करवाया जाएगा।  उन्होंने कहा कि इस बार किसानों की फसल नुकसानी की भरपाई बीमा राशि एवं मुआवजा राशि प्रदाय की जाएगी। श्री चौहान ने कहा कि आगामी तीन सालों में किसी गरीब का कच्चा मकान नहीं रहेगा, सभी को प्रधानमंत्री आवास योजना में पक्के मकान बनवाकर दिए जाएंगे। वही जिले के सभी गांवों में नल जल योजना के माध्यम से पानी उपलब्ध करवाया जाएगा। किसानों को भी सिंचाई हेतु भरपूर पानी उपलब्ध करवाया जाएगा। उन्होंने कहा कि आगरमालवा जिले के लिए स्वीकृत हर घर नल से जल योजना का भी प्राथमिकता से क्रियान्वयन करवाया जाएगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना काल में प्रदेश की जनता को जो बड़े हुए बिजली बिल मिले हैं,उनके भुगतान को रोक दिया गया है। आगामी माह से केवल एक ही माह का बिजली बिल भरना होगा।  मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि कोरोना संक्रमण काल में पथ व्यावसाईयों को कोई परेशानी न हो तथा उनका व्यवसाय पुनः चालू हो सकें,इसके लिए स्ट्रीट वेंडर योजनान्तर्गत बिना ब्याज के 10 हजार रुपए की कार्यशील पूंजी का ऋण उपलब्ध करवाया गया। जिन पथ विक्रेताओं के काम-धंधे बंद हो गए थे,उन्हें फिर से रोजगार से जोड़ दिया गया। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए कि जिले के अधिक से अधिक शहरी एवं ग्रामीण स्ट्रीट वेंडरों को योजना का लाभ दिलवाया जाए।  मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि बैंड-बाजा वाले को भी स्ट्रीट वेंडर योजना का लाभ दिया जाएगा साथ ही उन्हें एक रुपए किलों का राशन मिल सकें,इस हेतु खाद्यान्न पात्रता पर्ची भी वितरित की जाएगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में महिला सशक्तिकरण कार्य पूरी क्षमता से किया जा रहा है। स्व-सहायता समूहों को 14 सौ करोड़ रुपए की सहायता उनके विकास के लिए दी जाएगी। उन्होंने कहा कि प्रदेश के बेटे-बेटियों को पढ़ाई में कोई आर्थिक परेशानी नहीं आने दी जाएगी। आईआईटी, मेडीकल एवं अन्य तकनीकी पाठ्यक्रम की पढ़ाई हेतु बेटे-बेटियों की फीस मध्यप्रदेश सरकार वहन करेगी। हमारा संकल्प सबका साथ और सबका विकास है। उन्होंने आमजनों से आव्हान किया कि वे सरकार को अपना भरपूर समर्थन दें। ।

Dakhal News

Dakhal News 20 September 2020


bhopal, One day session,MP Assembly , limited number , members included

भोपाल। मध्यप्रदेश विधानसभा का एक दिवसीय सत्र सोमवार को आयोजित होने जा रहा है। कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों को देखते हुए इस बार सत्र में कई महत्वपूर्ण परिवर्तन किए गए है। इस सत्र में सीमित संख्या में सदस्य शामिल होंगे। एक दिवसीय सत्र में कार्यवाही के दौरान दिवंगत नेताओं को श्रद्धांजलि दी जाएगी। जबकि विधानसभा अध्यक्ष का चुनाव नहीं होगा।   इस बार सत्र में केवल 57 विधायक ही शामिल होंगे। एक दिवसीय सत्र में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान सहित 18 मंत्री शामिल होंगे। इसके अलावा विपक्षी पार्टी कांग्रेस के 22 विधायक सत्र में भाग लेंगे। भाजपा के 15 बीएसपी के एक और सपा के भी विधायक शामिल होंगे। एक दिवसीय विधानसभा सत्र में नेता प्रतिपक्ष कमलनाथ भी शामिल होंगे। वर्चुअल और एक्चुअल दोनों तरीके से विधानसभा की कार्रवाई चलेगी। इसके अलावा अन्य विधायक ऑनलाइन सदन की करवायी में ले भाग ले सकेंगे। कोरोना के चलते सिर्फ बजट पास किया जाएगा, लेकिन विधानसभा अध्यक्ष का चुनाव नहीं होगा। एक दिन के सत्र में दिवंगत नेताओं को श्रद्धांजलि देने के बाद बजट को पास किया जाएगा।

Dakhal News

Dakhal News 20 September 2020


bhopal, BJP state president, VD Sharma,father dies,Corona, CM Shivraj, expressed grief

भोपाल। मप्र भाजपा प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदत्त शर्मा के पिता अमर सिंह का शनिवार देर रात ग्वालियर में कोरोना के चलते निधन हो गया। वे 93 वर्ष के थे। बीते 14 सितम्बर की शाम को उनती तबियत बिगडऩे के बाद उन्हें जयारोग्य अस्पताल के सुपर स्पेशलिटी ब्लॉक में भर्ती कराया गया था। वे कोरोना संक्रमित पाए गए थे और डॉक्टरों की देख रेख में उनका इलाज चल रहा था, लेकिन शनिवार देर रात हालत बिगडऩे के बाद उनका निधन हो गया। वीडी शर्मा के पिता का अंतिम संस्कार रविवार को ग्वालियर में ही किया जाएगा। पिता के निधन का समाचार मिलते ही वीडी शर्मा भोपाल से ग्वालियर के लिए रवाना हो गए। उन्होंने लोगों से कोरोना संक्रमण को देखते हुए उनके पिता की अंत्येष्टि में शामिल नहीं होने की अपील की है।   वीडी शर्मा के पिता के निधन की खबर मिलते ही सीएम शिवराज ने ट्वीट कर श्रद्धांजलि अर्पित की है। उन्होंने ट्वीट कर कहा ‘ @BJPyMP के प्रदेशाध्यक्ष श्री vdsharmabjp के पूज्य पिताजी के निधन का दु:खद समाचार प्राप्त हुआ। दु:ख की इस घड़ी में मेरी संवेदनाएँ उनके साथ हैं। ईश्वर से प्रार्थना करता हूँ कि वे दिवंगत आत्मा को शांति दें और शोक संतप्त परिजनों को यह वज्रपात सहने की क्षमता प्रदान करें। एक अन्य ट्वीट कर उन्होंने दिवंगत आत्मा को नमन करते हुए कहा ‘ नैनं छिन्दन्ति शस्त्राणि नैनं दहति पावक:। न चैनं क्लेदयन्त्यापो न शोषयति मारुत:॥ विष्णुदत्त जी, पूज्य पिताजी आज हमारे बीच भले ही न रहे हों, लेकिन उनका आशीर्वाद और स्नेह आप पर हमेशा बना रहेगा।

Dakhal News

Dakhal News 20 September 2020