विशेष


bhopal, Programs held, September 17 to October 7 , commemorate Prime Minister

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का जन्म- दिवस 17 सितम्बर को है। मध्यप्रदेश में उनके जन्म दिन के उपलक्ष्य में 17 सितम्बर से 7 अक्टूबर तक विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन किया जाएगा। मुंख्यमंत्री चौहान कार्यक्रमों की तैयारी के संबंध में गुरुवार को मंत्रालय में आयोजित बैठक को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने गुजरात के मुख्यमंत्री के रूप में पहली बार 7 अक्टूबर 2001 को शपथ ली थी। उनके 71वें जन्म-दिवस और गुजरात के मुख्यमंत्री तथा देश के प्रधानमंत्री के रूप में कार्य करते हुए सुशासन देने के लगातर सफल 20 वर्ष पूर्ण करने पर राज्य सरकार विकास कार्यों और कल्याणकारी कार्यक्रमों की शुरूआत करेगी। प्रदेश में 17 सितम्बर से 7 अक्टूबर की अवधि में विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन होगा। यह कार्यक्रम प्रधानमंत्री मोदी को विनम्र आदरांजलि होंगे।मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में प्रधानमंत्री मोदी के जन्म-दिवस 17 सितंबर को वृक्षारोपण और वैक्सीनेशन महाअभियान का संचालन होगा। स्वास्थ्य, महिला-बाल विकास, पर्यावरण, किसान-कल्याण, ऊर्जा, शिक्षा, नगरीय प्रशासन, औद्योगिक विकास, ग्रामीण विकास, जल जीवन मिशन और प्रधानमंत्री स्वामित्व योजना से जुड़ी विभिन्न गतिविधियाँ इस अवधि में संचालित की जाएंगी। प्रदेश के गरीबों, महिलाओं, बच्चों, पिछड़ों, मजदूरों, अनुसूचित जाति और जनजाति के कल्याण और विकास के लिए कार्यक्रम संचालित किए जाएंगे। 71 हजार विद्यालयों में 71 हजार छात्रों द्वारा 71 हजार पौधों का होगा रोपण   बैठक में जानकारी दी गई कि प्रदेश के 71 हजार विद्यालयों में 71 हजार छात्रों द्वारा 71 हजार पौधों का रोपण होगा। अंकुर अभियान में इन सभी पौधों की फोटो एक माह बाद अपलोड की जाएगी। वन विभाग द्वारा 63 क्षेत्रीय वन मंडलों और 8 वन विद्यालयों इस प्रकार 71 स्थानों पर वृहद वृक्षारोपण कार्यक्रम किए जाएंगे। किसान-कल्याण के अंतर्गत 71 बीज ग्रामों का शुभारंभ, 71 कृषक उत्पादक संगठनों का गठन और कृषि अधोसंरचना निधि के 71 प्रकरणों में राशि का वितरण किया जाएगा। 71 हजार लाड़ली लक्ष्मी को होगा छात्रवृत्ति का भुगतान   प्रदेश की 71 हजार लाड़ली लक्ष्मी को छात्रवृत्ति का भुगतान और मातृ वंदना योजना के 7100 हितग्राहियों को राशि का भुगतान किया जाएगा। कुपोषित से सामान्य श्रेणी में आये 7100 बच्चों की माताओं को पोषण अधिकार सूचना-पत्र प्रदान किए जाएंगे। प्रदेश में 71 आँगनवाड़ी, 7100 वाटिकाओं और 71 विद्यालय भवनों का लोकार्पण एवं 71 बालिका छात्रावासों का भूमि-पूजन भी इस अवधि में होगा। महिला सशक्तिकरण के अंतर्गत 7100 महिला स्व-सहायता समूहों को क्रेडिट लिंकेज सुविधा उपलब्ध कराई जाएगी। 71 हजार आवासों में होगा गृह प्रवेश   विकास गतिविधियों के अंतर्गत 71 विद्युत उप केंद्रों का भूमि-पूजन, नगरीय प्रशासन विभाग द्वारा विभिन्न नगरीय निकायों में 71विकास कार्यों का लोकार्पण/भूमि-पूजन सम्पन्न किया जाएगा। ग्रामीण विकास विभाग द्वारा प्रधानमंत्री आवास योजना के अंतर्गत निर्मित 71हजार आवासों में गृह प्रवेश कराया जाएगा। साथ ही 710 पंचायत भवनों की शुरूआत होगी। स्वास्थ्य विभाग द्वारा 71 प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों और 71 उप प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों का भूमि-पूजन होगा। जल जीवन मिशन के अंतर्गत 71 योजनाओं का भूमि-पूजन होगा। 71 उद्योगों और 71 लघु उद्योगों के लिए भूमि आवंटन   प्रदेश में 71 उद्योगों और 71 सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योगों को भूमि आवंटन का एलओआई प्रदान किया जाएगा। प्रधानमंत्री स्वामित्व योजना के अंतर्गत 71 हजार लोगों को स्वामित्व पट्टा वितरित किया जाएगा। बैठक में नगरीय विकास एवं आवास मंत्री भूपेंद्र सिंह, कृषि एवं किसान-कल्याण मंत्री कमल पटेल, लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी, पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री महेंद्र सिंह सिसोदिया, सूक्ष्म लघु एवं मध्यम उद्यम तथा विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री ओमप्रकाश सकलेचा, औद्योगिक नीति एवं निवेश प्रोत्साहन मंत्री राजवर्द्धन सिंह, स्कूल शिक्षा राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार ) इंदर सिंह परमार, पिछड़ा वर्ग एवं अल्पसंख्यक कल्याण राज्य मंत्री रामखेलावन पटेल, मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस और विभागीय अधिकारी उपस्थित थे। ऊर्जा मंत्री प्रद्युमन सिंह तोमर, नवीन एवं नवकरणीय ऊर्जा तथा पर्यावरण मंत्री हरदीप सिंह डंग वर्चुअली सम्मिलित हुए।

Dakhal News

Dakhal News 9 September 2021


bhopal, Notification,election for Rajya Sabha, seat issued

भोपाल। मध्य प्रदेश में एक राज्यसभा सीट के लिए चुनाव की अधिसूचना जारी कर दी गई है। उल्लेखनीय है कि थावरचंद गहलोत के इस्तीफे के बाद खाली हुई इस सीट पर चार अक्टूबर को मतदान होगा। इसी दिन मतगणना भी की जाएगी।  

Dakhal News

Dakhal News 9 September 2021


bhopal, Chief Minister Shivraj ,described ,increase in MSP

भोपाल। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने केंद्र सरकार द्वारा मौजूदा फसल वर्ष के लिए गेहूं और सरसों समेत छह रबी फसलों के न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) में किए गए इजाफे को किसानों की आय में बढ़ोतरी करनेवाला एक महत्वपूर्ण कदम बताया है। मुख्यमंत्री ने जारी एक वीडियो में कहा है कि इससे लिए मैं प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का ह्दय से धन्यवाद देता हूं। वे किसान हितैषी प्रधानमंत्री हैं और किसानों के हित में लगातार फैसले ले रहे हैं। कल ही उन्होंने इस संदर्भ में बड़ा कदम उठाया है। उनके द्वारा लिया गया यह निर्णय निश्चित ही किसानों की आय में वृद्धि करेगा। वहीं, चौहान ने ट्विटर पर गुरुवार लिखा, ''किसान हितैषी प्रधानमंत्री श्री @narendramodiजी को किसानों के हित में लगातार निर्णय लेने के लिए हृदय से धन्यवाद देता हूँ। एमएसपी में वृद्धि कर किसानों की आय बढ़ाने की दिशा में एक और महत्वपूर्ण कदम उनके नेतृत्व में केंद्र सरकार द्वारा उठाया गया है।'' उल्लेखनीय है कि केंद्र सरकार ने गेहूं की एमएसपी 40 रुपये प्रति क्विंटल बढ़ाई है। इस इजाफे के बाद 2,015 रुपये प्रति क्विंटल की न्यूनतम कीमत पर गेहूं की खरीद होगी। सरसों की एमएसपी 400 रुपये प्रति क्विंटल बढ़ाकर 5,050 रुपये कर दी गई है। जौ की एमएसपी 35 रुपये बढ़ाकर 1635 रुपये प्रति क्विंटल कर दी गई है। चने की कीमत 130 रुपये बढ़ाकर 5,230 रुपये प्रति क्विंटल कर दी गई है। मसूर की एमएसपी 400 रुपये बढ़ाने के बाद 5,500 रुपये प्रति क्विंटल हो गई है। कुसुम की एमएसपी 114 रुपये बढ़ाकर 5,441 रुपये प्रति क्विंटल करने का फैसला लिया गया है।एमएसपी वह कीमत है जिस पर सरकार किसानों से फसल की खरीद करती है। इस समय सरकार खरीफ और रबी सीजन के 23 फसलों के लिए एमएसपी तय करती है। रबी फसलों की बुआई अक्टूबर में खरीफ फसल की कटाई के तुरंत बाद होती है। गेहूं और सरसों रबी सीजन के दो मुख्य फसल हैं।

Dakhal News

Dakhal News 9 September 2021


bhopal, Kamal Nath ,formed a five-member committee, investigate

भोपाल। मध्य प्रदेश के खरगौन जिले में आदिवासी युवक की मौत मामले में कांग्रेस ने सरकार पर निशाना साधा है। पूर्व सीएम और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने शिवराज सरकार पर आदिवासी विरोधी होने का आरोप लगाते हुए कहा है कि मध्यप्रदेश में आदिवासी वर्ग पर दमन व उत्पीडऩ का काम जारी है। उन्होंने खरगौन घटनाक्रम की जांच की लिए कांग्रेस की पांच सदस्यीय टीम बनाई है जो मौक़े पर जाकर पीडि़त परिवार व स्थानीय नागरिकों से मिलकर पूरी घटना की जाँच रिपोर्ट प्रदेश कांग्रेस कमेटी को सौंपेगी। कमलनाथ ने मंगलवार को ट्वीट कर घटना की निंदा करते हुए कहा कि नेमावर, नीमच के बाद अब खरगोन जिले के बिस्टान थाने में एक आदिवासी व्यक्ति की प्रताडऩा से मौत की जानकारी व बालाघाट जिले में स्कूल जाते समय एक आदिवासी छात्रा की हत्या की ख़बर। मैं सरकार से माँग करता हूँ कि इन दोनों घटनाओं की उच्च स्तरीय जाँच हो, दोषियों पर कड़ी से कड़ी कार्यवाही हो, पीडि़त परिवारों की हरसंभव मदद हो, उन्हें न्याय मिले। पूर्व सीएम ने कहा कि मध्यप्रदेश में आदिवासी वर्ग पर निरंतर दमन व उत्पीडऩ की घटनाएँ घट रही है। नेमावर, नीमच की घटना के बाद अब खरगोन जिले के बिस्टान थाने में खैरकुंडी के एक आदिवासी व्यक्ति की पुलिस प्रताडऩा से मौत की दुखद घटना सामने आयी है। ऐसा लग रहा है कि प्रदेश में चुन-चुनकर आदिवासी, दलित, शोषित वर्ग को निशाना बनाया जा रहा है।खरगोन जिले की इस घटना को बेहद गंभीर बताते हुए प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने इसको लेकर पूर्व मंत्री विजयलक्ष्मी साधो की अध्यक्षता में प्रदेश कांग्रेस कमेटी की एक जाँच कमेटी बनाने की घोषणा की है। जो मौक़े पर जाकर पीडि़त परिवार व स्थानीय नागरिकों से मिलकर पूरी घटना की जाँच रिपोर्ट प्रदेश कांग्रेस कमेटी को सौंपेगी। इस जाँच दल में ग्यारसी लाल रावत, मुकेश पटेल, प्राचीलाल मेड़ा, वालसिंह मेड़ा को शामिल किया गया है।  

Dakhal News

Dakhal News 7 September 2021


bhopal, Law and order ,management work , district with team spirit

भोपाल। प्रदेश के गृह मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने कानून व्यवस्था की समीक्षा करते हुए बुरहानपुर में टीम भावना से किए जा रहे कार्यों की सराहना की। गृह मंत्री डॉ. मिश्रा शुक्रवार को बुरहानपुर जिले के प्रवास के दौरान कोतवाली थाना स्थित पुलिस कन्ट्रोल रूम में बैठक कर समीक्षा कर रहे थे। गृह मंत्री डॉ. मिश्रा ने बैठक में अधिकारियों को निर्देशित किया कि अपराधियों को किसी भी कीमत पर छोड़ा नहीं जाए। विवेचना का कार्य तेजी से सुनिश्चित किया जा कर शीघ्रता से अपराधियों को सजा दिलाए जाना सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि महिलाओं के प्रति घटित होने वाले अपराधों में कमी लाया जाना निहायत ही जरूरी है, इसमें किसी प्रकार की कोताही नहीं बरती जाए। डॉ. मिश्रा ने एफ आई आर- आपके द्वार और ई-एफआईआर पर चर्चा करते हुए जिले में क्रियान्वयन बेहतर करने के निर्देश दिए।समीक्षा बैठक में पुलिस अधीक्षक राहुल कुमार लोढा ने जिले में कानून व्यवस्था के संबंध में की गई कार्यवाहियाँ एवं विभिन्न व्यवस्थाओं के संबंध में अवगत कराया। उन्होंने जिले में महिलाओं के विरूद्ध घटित आपराधिक प्रकरणों, रासुका प्रकरणों, एसटी/एससी पर घटित आपराधिक प्रकरणों एवं चिन्हित अन्य अपराधों पर की गई कार्यवाहियों के साथ ही अवैध शराब माफियाओं के विरूद्ध की गई कार्यवाहियों की विस्तृत रूप से जानकारी दी।इस अवसर पर पूर्व मंत्री अर्चना चिटनिस, विधायक बुरहानपुर ठा. सुरेंद्र सिंह, विधायक नेपानगर सुमित्रा देवी कास्डैकर, पुलिस महानिरीक्षक हरिनारायणचारी मिश्र, पुलिस उप महानिरीक्षक तिलक सिंह सहित अन्य जनप्रतिनिधि व पुलिस अधिकारी उपस्थित रहे।डॉ. मिश्रा ने अटल स्मृति स्थल पर पुष्पांजलि अर्पित की   गृह मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने बुरहानपुर में पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेई की स्मृति में बनाए गए अटल स्मृति स्थल पर जाकर पुष्पांजलि अर्पित की। इस अवसर पर उनके साथ पूर्व मंत्री अर्चना चिटनीस व अन्य जनप्रतिनिधि उपस्थित रहे।डॉ. मिश्रा ने पूर्व प्रदेश अध्यक्ष स्व.पटेल के परिजनों से की मुलाकात   गृह मंत्री डॉ नरोत्तम मिश्रा बुरहानपुर प्रवास के दौरान सांसद व भारतीय जनता पार्टी के पूर्व अध्यक्ष स्व. नंदकिशोर सिंह चौहान के निवास पर पहुंचे। उन्होंने परिजनों से मुलाकात की। डॉ. मिश्रा ने कहा कि नंदू भैया हमारी स्मृतियों में चिर-स्थाई रूप से रहेंगे। अपने क्षेत्र और प्रदेश के लिए किए गए उनके योगदान को भुलाया नहीं जा सकेगा।

Dakhal News

Dakhal News 3 September 2021


bhopal, Vishwas Sarang, takes a dig ,Congress

भोपाल। मध्य प्रदेश के उच्च शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग ने कांग्रेस की अधिकार यात्रा पर तंज कसा है। उन्होंने कहा है कि यह आदिवासियों के अधिकार दिलाने की यात्रा नहीं है, बल्कि 10 जनपद के माध्यम से कमलनाथ के अधिकार सुरक्षित रहें, कांग्रेस में उनकी हैसियत बनी रहे, दोनों पदों पर वो बने रहे इसलिए यात्रा निकाल रहे हैं। शुक्रवार को मीडिया से बातचीत करते हुए कांग्रेस अधिकार यात्रा पर विश्वास सारंग ने कहा कि कांग्रेस ने आदिवासियों को सिर्फ वोट बैंक में उपयोग किया है। शिव भानु को मध्य प्रदेश का मुख्यमंत्री क्यों नहीं बनने दिया, फूल सिंह बरैया की जगह दिग्विजय सिंह को राज्यसभा सांसद चुना। मंत्री सारंग ने कहा कि हमने आदिवासी योजनाओं की कल्याण की बात की थी तो 15 महीने की कांग्रेस सरकार ने रोक लगा दी थी। पिछड़ा वर्ग आयोग पर दिया बड़ा बयान पिछड़ा वर्ग आयोग का गठन करने पर मंत्री विश्वास सारंग ने कहा कि इसकी तारीफ कांग्रेस को करना चाहिए राजनीति नहीं, हमने अपने वादे को निभाया है। कमलनाथ ने झुनझुना पकड़ाया था, एक तरफ घोषणा की थी और पीछे के दरवाजे से जाकर रोक लगा दी थी। पहले आरक्षण का झुनझुना पकड़ाया, घोषणा की और खुद ने फिर कोर्ट से स्टे लगवा दिया, सरकार की तरफ से किसी वकील ने पैरवी तक नहीं की। दिग्विजय पर साधा निशाना आंदोलनो की रूप रेखा तैयार करने पर दिग्विजय सिंह को मिली कमान पर उच्च शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग ने निशाना साधते हुए कहा कि नकारात्मकता की बात होगी तो दिग्विजय सिंह का नाम आएगा। जन कल्याण योजना के लिए अगर दिग्विजय सिंह को कमान दी जाती तो हमें अच्छा लगता, लेकिन व्यक्ति की योग्यता के अनुसार ही कमान दी जाती है। दिग्विजय सिंह नकारात्मकता के माध्यम से राजनीति करते हैं। नकारात्मक राजनीति करने के लिए दिग्विजय सिंह को कमान सौंपी गई है। दिग्विजय सिंह को जो कमान दी जाएगी बंटाधार होगा। वहीं नीमच की घटना को लेकर कांग्रेस की जांच दल पर उन्होंने कहा कि नीमच की घटना में सरकार और पुलिस ने तुरंत कार्रवाई की है। घटना से जुड़े अपराधियों को पकड़ा है। अचल संपत्ति को भी जमींदोज किया गया है, दोषियों पर कार्रवाई हो गई तो यह कौन सी जांच की रिपोर्ट अपनी राजनीतिक रोटियां सेकने और दुकान चलाने के लिए कांग्रेस राजनीति कर रही है।

Dakhal News

Dakhal News 3 September 2021


bhopal, Chief Minister , interact with the beneficiaries , Pradhan Mantri Awas Yojana

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान शनिवार, 28 अगस्त को दोपहर एक बजे खंडवा में प्रधानमंत्री आवास योजना (शहरी) के 79 हजार 39 हितग्राहियों को 627 करोड़ रुपये की सहायता राशि का वितरण कर कुछ हितग्राहियों से संवाद भी करेंगे। मुख्यमंत्री द्वारा 50 हजार 253 हितग्राहियों के आवास निर्माण के लिये भूमि-पूजन किया जाएगा। इस कार्यक्रम के माध्यम से 363 निकायों के एक लाख 29 हजार 292 हितग्राही लाभन्वित होंगे। नगरीय विकास एवं आवास मंत्री भूपेन्द्र सिंह कार्यक्रम में वर्चुअली जुड़ेंगे।जनसम्पर्क अधिकारी राजेश पाण्डेय ने शुक्रवार को इसकी जानकारी देते हुए बताया कि मुख्यमंत्री चौहान के उद्बोधन एवं संवाद का प्रसारण वेबकॉस्ट लिंक के माध्यम से विभिन्न सोशल मीडिया जैसे - फेसबुक, ट्वीटर, व्हाट्सएप और मोबाइल पर आम नागरिक देख और सुन सकेंगे। दूरदर्शन और अन्य प्रादेशिक चैनलों के माध्यम से भी इस कार्यक्रम का प्रसारण किया जायेगा। कार्यक्रम में सभी मंत्री, सांसद, विधायक एवं अन्य जन-प्रतिनिधियों को भी आमंत्रित किया गया है। सभी नगरीय निकाय कार्यक्रम में वर्चुअली जुड़ेंगे।नगरीय विकास एवं आवास मंत्री भूपेन्द्र सिंह ने बताया कि प्रधानमंत्री द्वारा देश के हर नागरिक को पक्का आवास उपलब्ध कराने के उद्देश्य से वर्ष 2015 में प्रधानमंत्री आवास योजना (शहरी) शुरू की गई थी। प्रदेश में योजना के विभिन्न घटकों के अन्तर्गत 8 लाख 37 हजार आवास स्वीकृत किये गये हैं। इनमें से 3 लाख 33 हजार हितग्राहियो के आवास पूरे हो चुके हैं। शेष आवासों का निर्माण भी तेजी से किया जा रहा है। मध्यप्रदेश में योजना के प्रभारी क्रियान्वयन के लिये कई नवाचार किये गये हैं। भूमिहीन परिवारों को आवासीय भूमि का पट्टा भी उपलब्ध कराया गया है।  

Dakhal News

Dakhal News 27 August 2021


bhopal, Kamal Nath ,raised questions, regarding OBC reservation

भोपाल। मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने एक बार फिर ओबीसी आरक्षण को लेकर सरकार पर निशाना साधा है। उन्होंने सवाल उठाते हुए कहा है कि हमारी सरकार ने ओबीसी वर्ग के उत्थान के लिये प्रदेश में आरक्षण को 14 प्रतिशत से बढ़ाकर 27 प्रतिशत किया था। इसको लेकर न्यायालय में कुछ याचिकाएँ लगी थी, उन पर ही अंतरिम आदेश दिया गया था, बाक़ी जगह इस पर कोई रोक नही थी लेकिन इस आदेश पर दिये एक ग़लत अभिमत के आधार पर अन्य सारे विभागों में नियुक्तियो में रोक लगाकर शिवराज सरकार में पिछड़े वर्ग को उनके हक से निरंतर वंचित किया जा रहा था, निरंतर झूठ परोसा जा रहा था,हम उसी का विरोध कर रहे थे? पूर्व सीएम कमलनाथ ने कहा है कि अब सरकार ने लिये एक अभिमत के आधार पर यह मान लिया है कि प्रदेश में, हमारी सरकार के आरक्षण को बढ़ाकर 27 प्रतिशत किये जाने के निर्णय पर कोई रोक नही है। अंतरिम आदेश से संबंधित विभागों को छोडक़र सरकारी नौकरियों व शैक्षणिक संस्थानों में बढ़े हुए आरक्षण का लाभ दिया जा सकता है। उन्होंने मांग करते हुए कहा कि मैं शिवराज सरकार से माँग करता हूँ कि इस अभिमत के बाद गुमराह करने व झूठ बोलने की राजनीति छोड़, तत्काल संशोधित आदेश जारी कर सरकारी नियुक्तियों व शैक्षणिक संस्थानों में बढ़े हुए आरक्षण का लाभ पिछड़े वर्ग को अविलंब दिया जाये और हमारी सरकार के पिछड़े वर्ग के हित में लिये गये इस निर्णय को तत्काल लागू किया जाये एवं न्यायालय में भी मज़बूत पैरवी से लंबित याचिकाओं के मामले में भी पिछड़ा वर्ग का मज़बूती से पक्ष रखा जाये।

Dakhal News

Dakhal News 27 August 2021


bhopal, School Education Minister, big statement ,regarding opening schools

भोपाल। मप्र सरकार जल्द ही प्रायमरी स्कूल संचालित करने का फैसला कर सकती है। प्रदेश में लम्बे वक्त से बंद छोटे बच्चों की प्राइमरी स्कूल यानी पहली से पांचवीं तक के स्कूल खुल सकते हैं। स्कूल शिक्षा मंत्री इंदर सिंह परमार ने 5वीं से 8वीं तक की स्कूलों को खोलने को लेकर एक बड़ा बयान दिया है। उन्होंने शुक्रवार को मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि अगले 4 दिनों में 5वीं से 8वीं तक की स्कूलों को खोलने पर फैसला लिया जाएगा। 30 अगस्त तक स्कूल में बच्चे कैसे आएं और क्लास कैसे शुरू हों, इस पर निर्णय लेकर पूरा प्रोग्राम स्कूली शिक्षा विभाग जारी करेगा। इसके लिए स्कूल शिक्षा विभाग ने पूरी तैयारी कर ली है। उन्होंने कहा कि कई दिनों से स्कूल बंद होने की वजह से बच्चों की पढ़ाई पर असर पड़ रहा है। इसलिए अब स्कूलों को और नहीं बंद किया जा सकता है। ऐसे में बच्चे स्कूल कैसे आएं और क्लास कैसे शुरू हो इस पर निर्णय ले लिया जाएगा। स्कूल शिक्षा मंत्री इंदर सिंह परमार ने कहा कि 30 अगस्त तक स्कूल खोलने का प्रोग्राम जारी करेंगे। अगर कोरोना की रिपोर्ट ठीक रहती है, तो सितंबर के दूसरे सप्ताह तक छोटे बच्चों के लिए भी स्कूल खोलने पर विचार कर रहे हैं। कोरोना वायरस की दर में कमी आने के बाद मध्य प्रदेश में 9वीं से 12वीं तक की स्कूलों को खोल दिया गया है। वर्तमान में चल रही 9वीं से लेकर 12वीं तक की क्लास लगने के दिन बढ़ाए जाएंगे, यह सप्ताह में एक क्लास के लिए तीन दिन तक हो सकते हैं। वहीं 6वीं से लेकर 8वीं तक की क्लास को शुरू करने पर विचार किया जा रहा है, यह सप्ताह में दो दिन लग सकती हैं।

Dakhal News

Dakhal News 27 August 2021


bhopal, Center issued notification,Atal Progress Way, CM Shivraj ,economic development

भोपाल। भारत शासन के राष्ट्रीय राजमार्ग एवं सड़क परिवहन मंत्रालय ने गुरुवार को मध्यप्रदेश की महत्वाकांक्षी अटल प्रोग्रेस-वे परियोजना को भारत माला फेस-1 में शामिल करने की स्वीकृति जारी की है। चंबल संभाग के भिण्ड मुरैना एवं श्योपुर जिलों से होते हुए यह पूर्णतः नया एक्सप्रेस-वे मध्यप्रदेश में 404 किलो मीटर लंबाई का होगा, जो पूर्व में झाँसी (उत्तर प्रदेश) से तथा पश्चिम में कोटा (राजस्थान) से जोड़ते हुए निर्मित किया जायेगा। यह जानकारी जनसंपर्क अधिकारी अनिल वशिष्ठ ने दी। उन्होंने बताया कि मख्युमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने अटल प्रोग्रेस-वे के भारतमाला फेस -1 में शामिल किए जाने पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी तथा केन्द्रीय सड़क, परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गड़करी का आभार माना है। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि अटल प्रोग्रेस-वे ग्वालियर-चबंल संभाग के विकास की जीवन रेखा साबित होगी। इस 404 किलोमीटर लंबाई के एक्सप्रसे-वे के आस-पास इंडस्टियल कोरिडोर का निर्माण कराया जायेगा। जो क्षेत्र के आर्थिक विकास की महत्वपूर्ण कड़ी बनेगी। उल्लेखनीय है कि इस मार्ग के निर्माण से झाँसी (उत्तर प्रदेश) से कोटा (राजस्थान) का एक प्रमुख नया मार्ग जुड़ेगा, जो मध्यप्रदेश के 3 जिलों को लाभान्वित करेगा। इन दोनों बिन्दुओं की दूरी में भी लगभग 50 किलोमीटर की बचत होगी। इस एक्सप्रेस-वे के बनने में अवागमन में लगने वाला 11 घंटे का समय घटकर 6 घंटे तक हो जायेगा। एक्सप्रेस-वे के साथ औद्योगिक क्षेत्रों का होगा विकास चंबल नदी के किनारे-किनारे बनाये जाने वाले इस नये एक्सप्रेस-वे में मध्यप्रदेश शासन ने औद्योगिक, व्यावसायिक एवं विभिन्न प्रकार की गतिविधियों में निवेश आमंत्रित करने के लिये अग्रिम तैयारी की है। एक्सप्रेस-वे में लगने वाली समस्त भूमि राज्य शासन द्वारा अपने व्यय पर उपलब्ध कराई जा रही है। इस परियोजना पर लगभग 7000 करोड़ रूपये का व्यय संभावित है। इस एक्सप्रेस-वे को 7 विभिन्न पैकजों के माध्यम से बनाये जाने की तैयारी है। सात हजार करोड़ की निविदायें शीघ्र: मंत्री गोपाल भार्गव लोक निर्माण मंत्री गोपाल भार्गव ने केन्द्र सरकार द्वारा दी गई स्वीकृति पर प्रसन्नता व्यक्त करते हुए केन्द्रीय सड़क, परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गड़करी का आभार व्यक्त किया है। उन्होंने कहा कि इस परियोजना की निविदाएँ अब अतिशीघ्र जारी की जा सकेंगी। मंत्री भार्गव ने मुख्यमंत्री चौहान द्वारा इस परियोजना में ली गई सतत रूचि एवं समीक्षा बैठकों को श्रेय देते हुए बताया कि पहली बार इतनी महत्वाकांक्षी एवं पूर्णतः नये सिर से बनाये जाने वाली परियोजना की परिकल्पना, डीपीआर निर्माण और भारत सरकार से स्वीकृति प्राप्ति तक की जाने वाली कार्यवाही इतने कम समय में संभव हो पाई है। इस परियोजना का निर्माण एन.एच.ए. आई. द्वारा किया जायेगा। अटल प्रोग्रेस-वे के लिये राज्य शासन द्वारा रिकार्ड 4 महीने में डीपीआर बनाकर भारत सरकार के समक्ष प्रस्तुत की गई। लगभग 1500 हेक्टेयर शासकीय भूमि का हस्तातरण भी रिकॉर्ड समय में पूर्ण कर राष्ट्रीय राजमार्ग एवं सड़क परिवहन मंत्रालय (एन.एच.ए.आई) को आधिपत्य दिया जा चुका है।  

Dakhal News

Dakhal News 19 August 2021


bhopal, Will remove the problems, brothers and sisters ,affected by flood,Shivraj

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है की बाढ़ से प्रभावित हमारे भाई-बहनों की तकलीफें दूर करना है। राहत, पुनर्वास और पुनर्निर्माण के कार्य में जुटना है। जो भाई-बहन बाढ़ से प्रभावित हुए उनकी परेशानियों को दूर करना हमारी प्राथमिकता है। यह बात मुख्यमंत्री चौहान ने गुरुवार को स्मार्ट उद्यान में मीडिया के प्रतिनिधियों से चर्चा करते हुए कही। मुख्यमंत्री चौहान गुरुवार को श्योपुर और शिवपुरी जिले के बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों के दौरे पर रवाना हुए हैं। मुख्यमंत्री चौहान भोपाल से विमान से ग्वालियर पहुंचेंगे वहां से हेलीकॉप्टर से श्योपुर जाएंगे। मुख्यमंत्री चौहान श्योपुर में सिंगल क्लिक से बाढ़ राहत राशि का वितरण करेंगे तथा ग्वालियर-चम्बल सम्भाग के जिलों और विदिशा के बाढ़ प्रभावितों से चर्चा भी करेंगे। मुख्यमंत्री चौहान श्योपुर जिले के ग्राम सरोदा और शिवपुरी जिले के ग्राम मगरोनी और ग्राम पनघटा के बाढ़ पीड़ित व्यक्तियों से भेंट कर चर्चा करेंगे।

Dakhal News

Dakhal News 19 August 2021


indore,67 new flights, start from Madhya Pradesh, September, Scindia

इंदौर। केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने गुरुवार को अपनी जन आशीर्वाद यात्रा से पहले पत्रकारों से चर्चा की। इस दौरान उन्होंने बताया कि अगले महीने में मध्यप्रदेश से 67 नई उड़ानें शुरू होंगी। इंदौर में गुरुवार को केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने जनआशीर्वाद यात्रा से पहले भाजपा कार्यालय में राजामाता स्व. विजयाराजे सिंधिया की प्रतिमा पर माल्यार्पण किया और वरिष्ठ नागरिकों से मुलाकात की। इसके बाद उन्होंने पत्रकारों से बातचीत की। उन्होंने कहा कि उन्हें उड्डयन मंत्रालय मिलने के बाद मध्यप्रदेश में एविएशन के क्षेत्र में तेजी से काम हो रहा है। एक सितंबर तक मध्यप्रदेश से 67 नई फ्लाइट्स शुरू हो रही हैं। एक हफ्ते में इंदौर को ग्वालियर और जबलपुर से हवाई रूट से जोड़ दिया जाएगा। जनप्रतिनिधियों ने किया यात्रा के रूट का निरीक्षण सिंधिया की जन आशीर्वाद यात्रा से पहले इंदौर के जनप्रतिनिधियों व भाजपा नेताओं ने बुधवार को यात्रा के 18 किलोमीटर लंबे रूट का निरीक्षण किया।भाजपा नगर अध्यक्ष गौरव रणदिवे ने बताया कि जन आशीर्वाद यात्रा को लेकर इंदौर में भाजपा के पदाधिकारी कसर नहीं छोड़ना चाहते। बुधवार को जनप्रतिनिधियों का दल सिटी बस में सवार होकर यात्रा मार्ग का निरीक्षण करने निकला। इसमें भाजपा प्रदेश उपाध्यक्ष जीतू जिराती, विधायक मालिनी गौड़, विधायक महेंद्र हार्डिया सहित कई जनप्रतिनिधि मौजूद रहे। सभी ने यात्रा मार्ग का निरीक्षण किया। यात्रा के रूट में पांच सौ से अधिक स्वागत मंच बनाए गए हैं।  

Dakhal News

Dakhal News 19 August 2021


bhopal, Relief and rehabilitation , flood affected ,tipulated limit, Digvijay Singh

भोपाल। मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री व राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह बीते दिनों मध्यप्रदेश के गवालियर-चम्बल संभाग में बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों पर दौरे पर गए थे और उन्होंने बाढ़ की वजह से होने वाली हानि को बड़े नज़दीक से देखा। श्योपुर, शिवपुरी, ग्वालियर, भिंड व दतिया जिलों में 4 दिवसीय दौरे के बाद दिग्विजय सिंह ने मंगलवार को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को पत्र लिखा है। पत्र में उन्होंने कहा कि प्रदेश के ग्वालियर और चंबल संभाग के जिलों में बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों के दौरे के दौरान स्थानीय लोगों ने बताया कि विगत सौ वर्षों में उन्होंने बाढ़ की ऐसी विभिषिका नहीं देखी। जहाँ तक नजर जाती है उजड़े गांव और बदहाल लोग नजर आते हैं। अनेक गांव, कस्बे, टोले-मंजरे सहित हजारों परिवार पूरी तरह से बर्बाद हो चुके हैं। उन्होंने कहा कि तबाह हुए इन गांवों में राहत राशि तो दूर अभी तक प्रभावितों का सर्वे लगभग दस दिनों तक नहीं हो पाया था। उन्होंने कहा कि पीडि़तजनों से मुलाकात के बाद शासन और प्रशासन द्वारा की गई लापरवाही और अकर्मण्यता साफ नजर आ रही है, जबकि प्रशासन को युद्ध स्तर पर राहत और पुनर्वास के काम प्रारंभ करना चाहिए था जो विपदा के 10 दिन बाद तक शुरू नहीं हो सके थे। दिग्विजय सिंह ने मुख्यमंत्री से बाढ़ और अतिवृष्टि से ग्रामीण जनों को हो रही समस्याओं का उल्लेख करते हुए कहा कि ग्रामवासियों द्वारा रबी की फसल में मेहनत मजदूरी कर सालभर के लिये एकत्र किया गया अनाज बह गया, वहीं दूसरी तरफ लगभग हर परिवार से पालतू मवेशी गाय, भैंस, बैल, बकरी, मुर्गा-मुर्गी बह गये। पूर्व मुख्यमंत्री ने मुख्यमंत्री को बताया कि ग्वालियर, चंबल संभाग में हजारों परिवारों के मकान पूर्ण रूप से ध्वस्त हो चुके हैं। ऐसे समस्त गांवों को नये सिरे से कॉलोनी बनाकर बसाया जाये और उन्हे मकान बनाने के लिये एक लाख बीस हजार रुपये के स्थान पर ढाई लाख रुपये प्रति परिवार मकान बनाने के लिये दिए जाएं। साथ ही जिन परिवारों में बालिग सदस्य हैं उन्हे पृथक परिवार मानते हुए प्लाट और मकान के लिये ढाई लाख रुपये दिये जाएं। उन्होंने कहा कि दोनों संभागों के पांचों जिलों के भ्रमण के दौरान प्रशासन की असंवेदनशीलता स्पष्ट तौर से नजर आई। उन्होंने कहा कि आश्चर्य है कि आदिवासी वर्ग की सहरिया जाति बाहुल्य वाले श्योपुर और शिवपुरी जिले का प्रशासन बिना तहसीलदारों के कैसे चल रहा था? इतनी बड़ी विभिषिका के बाद ताबड़तोड़ तबादले कर तहसीलदार, नायब तहसीलदार तैनात किये गये। इस घटना से पता चलता है कि विशेष पिछड़ी सहरिया जनजाति के प्रति सरकार कितनी संवेदनशील है। कई गांवों में बाढ़ पीडि़तों ने पटवारियों और ग्राम पंचायत सचिवों द्वारा किये जा रहे पक्षपातपूर्ण कार्यवाही की भी जानकारी दी है। उन्होंने कहा कि वे अपने पत्र के साथ इन जिलों से प्राप्त उल्लेखनीय जानकारी संलग्न कर मुख्यमंत्री को प्रेषित कर रहे हैं। दिग्विजय सिंह ने मुख्यमंत्री से अनुरोध करते हुए कहा है कि बाढ़ की तबाही का प्रभाव सामान्य जनजीवन पर सब ओर पड़ा है। ऐसी स्थिति में घर-परिवार की क्षति के आंकलन के लिये राजस्व विभाग, फसलों के बर्बाद होने के लिये कृषि विभाग, पशुओं के खत्म होने या बह जाने के लिये पशु चिकित्सा विभाग सहित अन्य संबंधित विभागों के संयुक्त दल गठित कर युद्धस्तर पर राहत राशि वितरण की कार्यवाही की जानी चाहिये। सर्वे में विलंब करने और राहत केम्प समय पर प्रारंभ नहीं करने वाले जिम्मेदार अधिकारियों पर भी कार्यवाही की जानी चाहिये। उन्होंने बाढ़ की वजह से जनता को आ रही एक और समस्या को बताते हुए मुख्यमंत्री से कहा कि तेज़ और लगातार बारिश और बाढ़ से लोगों के घरों में पानी भर गया जिससे लोगों के आधार कार्ड, राशन कार्ड, वोटर कार्ड, मनरेगा का जॉब कार्ड, जमीन की बही, रजिस्ट्री की कापी आदि महत्वपूर्ण दस्तावेज पानी में बह गए या खराब हो गये। इसीलिए सभी प्रभावित ग्रामों में विशेष शिविर लगाकर अति आवश्यक दस्तावेज पुन: तैयार करवाकर पीडि़त परिवारों को सौंपे जाये। उन्होंने मुख्यमंत्री को बताया कि उनके दोनों संभागों के दौरे के दौरान उन्होंने हजारों बाढ़ पीडि़तों से मुलाकात की उनके दुखदर्द को जाना। बाढ़ से ऊपजे हृदयविदारक हालातों को देखते हुए इस विभिषिका को केन्द्र सरकार से राष्ट्रीय आपदा घोषित किये जाने के प्रयास करने चाहिये और केन्द्र सरकार को भी इस राष्ट्रीय आपदा में भरपूर मदद देनी चाहिये। उन्होंने कहा कि लोगों को राहत दिये जाने और पुनर्वास किये जाने के लिये यदि राजस्व पुस्तक परिपत्र की नीति 6-4 में भी बदलाव करना पड़े तो नियमों को संशोधित कर हर पीडि़त परिवार के आंसू पौछें जाने चाहिये। पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से कहा कि सैकड़ों गांवों में सब कुछ तबाह होने से प्रभावितों के जख्म बहुत गहरे हैं। राहत व पुनर्वास का काम पूरी ईमानदारी व ’समयसीमा’ में तय करते हुए राज्यशासन संवेदनशीलता का परिचय दे।

Dakhal News

Dakhal News 17 August 2021


bhopal, Beneficiaries of Chief Minister, Kovid-19 ,Child Service Scheme

भोपाल। केन्द्र सरकार द्वारा कोरोना महामारी के कारण जिन बच्चों के माता-पिता, कानूनी अभिभावक या दत्तक माता-पिता की मृत्यु हो गई है, उन्हें "पीएम केयर्स फॉर चिल्ड्रन'' योजना में सहारा दिया जायेगा। इस योजना के लिये प्रदेश की मुख्यमंत्री कोविड-19 बाल सेवा योजना के बाल हितग्राही भी पात्र होंगे। यह जानकारी शुक्रवार को जनसंपर्क अधिकारी बिन्दु सुनील ने दी। योजना में बाल हितग्राही को सहायता पीएम केयर्स फॉर चिल्ड्रन योजना में बाल हितग्राही के 18 वर्ष के होने पर बच्चे के नाम से 10 लाख रुपये के कार्पस का प्रावधान किया गया है। इसी कार्पस से बच्चे को मासिक आर्थिक सहायता दी जायेगी। बाल हितग्राही की आयु 23 वर्ष होने पर उन्हें 10 लाख रुपये दिये जायेंगे। आयुष्मान भारत योजना के अंतर्गत बाल हितग्राही को 5 लाख रुपये तक का स्वास्थ्य बीमा कवर दिया जायेगा। योजना में बाल हितग्राही को 10 वर्ष की आयु तक नजदीकी केन्द्रीय विद्यालय अथवा निजी विद्यालय में गैर-आवासीय विद्यार्थी के रूप में प्रवेशित कर शिक्षा के अधिकार प्रावधानों के अनुरूप फीस केन्द्र सरकार द्वारा वहन की जायेगी। इसके अतिरिक्त उन्हें किताबों, नोट-बुक, यूनिफार्म पर व्यय राशि भी प्रदान की जायेगी। पीएम केयर्स फॉर चिल्ड्रन योजना के तहत बाल हितग्राही के 11 से 18 वर्ष आयु समूह में होने पर केन्द्रीय आवासीय विद्यालय जैसे नवोदय विद्यालय, सैनिक स्कूल आदि में प्रवेशित किया जायेगा। यदि हितग्राही संयुक्त परिवार में निवासरत है, तो नजदीकी केन्द्रीय विद्यालय या निजी विद्यालय में गैर-आवासीय विद्यार्थी के रूप में प्रवेशित किया जायेगा। आवेदन की प्रक्रिया योजना के अंतर्गत पात्र बच्चों के चिन्हांकन की कार्यवाही जिला कलेक्टर द्वारा की जायेगी। पात्र सभी बच्चों की प्रविष्टि pmcaresforchildren.in पोर्टल पर अपलोड की जायेगी। इसके अतिरिक्त "सिटीजन लॉग इन'' से सीधे आवेदन को भरा जा सकता है अथवा बाल कल्याण समिति के लॉग इन से भी आवेदन किया जा सकता है। योजना में माता-पिता की कोविड से मृत्यु संबंधी प्रमाण-पत्र का होना अनिवार्य नहीं है। किन्तु कलेक्टर द्वारा बच्चे के माता-पिता की मृत्यु कोविड से होने के संबंध में संतुष्टि होने और सत्यापन किये जाने पर ही बच्चे को लाभान्वित किया जायेगा। सिटीजन लॉग इन अंतर्गत एक मोबाइल नम्बर से अधिकतम 10 आवेदन फीड किये जा सकते हैं। योजना के संबंध में विस्तृत जानकारी व सहायता भारत सरकार द्वारा जारी सम्पर्क नं. 011-23385289 अथवा ई-मेल cw2section-mwcd@gov.in पर सम्पर्क किया जा सकता है।

Dakhal News

Dakhal News 13 August 2021


bhopal, Madhya Pradesh ,soon be self-dependent ,oxygen production, Shivraj

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की आत्म-निर्भर भारत की परिकल्पना को पूरा करने की दिशा में मध्यप्रदेश तेजी से आगे बढ़ रहा है। प्रदेश में केन्द्र सरकार, निजी उद्यमों एवं जन-सहयोग से बड़ी संख्या में ऑक्सीजन संयंत्र स्थापित किए जा रहे हैं। हम ऑक्सीजन के मामले में शीघ्र आत्म-निर्भरता हासिल कर लेंगे तथा हमें अन्य प्रदेशों से ऑक्सीजन लेने की आवश्यकता नहीं होगी। मुख्यमंत्री चौहान ने यह बातें शुक्रवार को अपने निवास से रीवा क्षेत्र के 4 ऑक्सीजन संयंत्रों का वर्चुअल लोकार्पण करते हुए कही। वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से विधानसभा अध्यक्ष गिरीश गौतम, सांसद जर्नादन मिश्र, स्वास्थ्य मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी (बैठक में), चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग, विधायक राजेन्द्र शुक्ला, विधायक श्यामलाल द्विवेदी, केपी त्रिपाठी, स्वास्थ्य आयुक्त आकाश त्रिपाठी (बैठक में) शामिल हुए।मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि आज एक साथ 4 ऑक्सीजन संयंत्र प्रारंभ होना विन्ध्य एवं रीवा क्षेत्र के लिए बड़ी उपलब्धि है। इनमें से तीन संयंत्रों की क्षमता 500-500 लीटर प्रति मिनिट तथा एक संयंत्र की क्षमता 100 लीटर प्रति मिनट है।सरकार द्वारा 50 प्रतिशत पूँजी अनुदानउन्होंने कहा कि निजी उद्यमों द्वारा ऑक्सीजन प्लांट लगाए जाने पर प्रदेश सरकार 50% पूंजी अनुदान दे रही है। आज दो संयंत्र निजी कंपनियों द्वारा लगाए गए हैं। वर्षम कंस्ट्रक्शन प्राइवेट लिमिटेड द्वारा औद्योगिक पार्क रीवा में 310.91 लाख की लागत से लगाया गया प्लांट 500 एल.पी.एम. क्षमता का है। जे.पी. लिमिटेड द्वारा जे.पी. अस्पताल रीवा में लगाया गया प्लांट 500 एल.पी.एम. क्षमता का है।सुपर स्पेशिलिटी अस्पताल में जन-भागीदारी से संयंत्रमुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि सुपर स्पेशिलिटी अस्पताल रीवा में 98.71 लाख रूपये की लागत से 500 एल.पी. एम क्षमता का प्लांट जन-भागीदारी से लगाया गया है। इसके लिए सभी संबंधित बधाई के पात्र हैं। साथ ही जिला अस्पताला रीवा में मुख्यमंत्री राहत कोष से 44.72 लाख रुपये की लागत से 200 एल.पी.एम. क्षमता का ऑक्सीजन संयंत्र लगाया गया है।विन्ध्य क्षेत्र के विकास के लिए निरंतर कार्यविधानसभा अध्यक्ष गिरीश गौतम ने कहा कि क्षेत्र में एक साथ 4-4 ऑक्सीजन संयंत्र स्थापित किए जाने पर मैं यहाँ की जनता की ओर से मुख्यमंत्री चौहान का धन्यवाद ज्ञापित करता हूँ। प्रदेश सरकार विन्ध्य क्षेत्र के विकास के लिए निरंतर कार्य कर रही है। बाणसागर परियोजना ने क्षेत्र के किसानों की तकदीर बदल दी है।कोरोना नियंत्रण के लिए सराहनीय कार्यसांसद जनार्दन मिश्र ने कहा कि रीवा क्षेत्र में कोरोना नियंत्रण, विकास, उद्योग, हवाई सेवाओं आदि कार्यों के लिए मुख्यमंत्री चौहान द्वारा सराहनीय कार्य किया गया है।म.प्र. का जन-भागीदारी मॉडल सराहनीयस्वास्थ्य मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी ने कहा कि मुख्यमंत्री चौहान के नेतृत्व में मध्यप्रदेश के जन-भागीदारी मॉडल की पूरे देश में सराहना हो रही है। पहले कोरोना नियंत्रण और अब आत्म-निर्भर मध्यप्रदेश की स्थापना में यह मॉडल अत्यंत कारगर सिद्ध हो रहा है।रीवा को 100 वैक्सीनेशन के लिए बधाईचिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग ने कहा कि इन ऑक्सीजन संयंत्रों के प्रारंभ हो जाने से रीवा ऑक्सीजन क्षेत्र में आत्म-निर्भरता को प्राप्त कर लेगा। प्रदेश में देवास नगर निगम के बाद रीवा ने कोरोना वैक्सीनेशन का शत-प्रतिशत प्रथम डोज लगवाने का लक्ष्य पूरा कर लिया है। इसके लिए रीवा बधाई का पात्र है।रीवा को मिली हैं बड़ी सौगातें विधायक राजेन्द्र शुक्ल ने कहा कि मुख्यमंत्री श्री चौहान ने आज रीवा जिले को बड़ी सौगातें दी हैं। आज यहाँ ऑक्सीजन प्लांट की श्रंखला का लोकार्पण हुआ है। इससे यहाँ पर्याप्त मात्रा में मेडिकल ऑक्सीजन उपलब्ध होगी। मुख्यमंत्री चौहान के प्रयासों से रीवा में हवाई अड्डा बनाया जाएगा और शीघ्र इंदौर एवं भोपाल के लिए वायु सेवा प्रारंभ होगी।

Dakhal News

Dakhal News 13 August 2021


ujjain, Uproar in Mahakal temple ,due to Kailash Vijayvargiya, delay in aarti

उज्जैन। बीजेपी नेता कैलाश विजयवर्गीय, उनके बेटे विधायक आकाश विजयवर्गीय और विधायक रमेश मेंदोला शुक्रवार सुबह भस्मारती के दौरान भगवान महाकाल के दर्शन करने के लिए पहुंचे। इसके चलते मंदिर के पुजारियों को भी रोक दिया गया। गुस्साए पुजारियों ने इसे लेकर जमकर हंगामा किया और हंगामे के चलते भस्मारती करीब आधा घंटा लेट हो गई। शुक्रवार सुबह 4 बजे भस्म आरती करने जब मुख्य पुजारी अजय और दूसरे पुजारी जब महाकाल मंदिर के गेट नंबर चार पर पहुंचे तो उन्हें वहीं रोक दिया गया। कुछ देर बाद आगे जाने दिया गया, लेकिन सूर्यमुखी द्वार पर फिर से रोक दिया गया। पुजारी अजय ने यहां तैनात वाणिज्यिक कर अधिकारी दिनेश जायसवाल से इसकी वजह पूछी तो वे बहस करने लगे। इसी बीच पुजारियों ने सभा मंडप में कैलाश विजयवर्गीय के साथ आकाश विजयवर्गीय और रमेश मेंदोला को देखा तो वे भड़क गए और हंगामा शुरू कर दिया। उन्होंने कहा कि वे मुख्यमंत्री से शिकायत करेंगे। पुजारियों का कहना है कि फिलहाल उनके अलावा किसी और को गर्भगृह में जाने की इजाजत नहीं है। ऐसे में नेताओं को किसके आदेश से गर्भगृह तक जाने दिया गया, इसकी जांच कराई जाए। बता दें कोरोना प्रोटोकॉल के चलते भस्म आरती में श्रद्धालुओं की एंट्री एक साल से बंद है। वहीं, कैलाश विजयवर्गीय और दूसरे नेता दर्शन करने के बाद जब मंदिर के धर्मशाला गेट से निकल रहे थे, तभी पत्रकारों ने भस्म आरती में देरी को लेकर उनसे सवाल किया, जिसका उन्होंने कोई जवाब नहीं दिया।

Dakhal News

Dakhal News 13 August 2021


sehore,Chief Minister Chouhan ,e-dedicated, new health facilities, Nasrullaganj

सीहोर। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि नसरुल्लागंज के सीहोर जिले के 50 बिस्तर क्षमता के अस्पताल को 100 बिस्तर क्षमता के अस्पताल में अपग्रेड किया जाएगा। स्वास्थ्य के क्षेत्र में प्रदेश के छोटे नगरों और कस्बों में बड़े नगरों की तरह आवश्यक सुविधाएं विकसित की जाएंगी। यह बात मुख्यमंत्री चौहान ने गुरुवार को नसरुल्लागंज सिविल अस्पताल में 1 करोड़ 40 लाख की लागत से स्थापित ऑक्सीजन प्लांट और 80 लाख की लागत से बनाई गई पेथॉलॉजी का ई-लोकार्पण करते हुए कही। मुख्यमंत्री चौहान ने इस अवसर पर सिविल अस्पताल में 10 बेड के आईसीयू और मेटरनिटी विंग के लिए भूमि-पूजन भी किया। लोकार्पित कार्यों की लागत 2 करोड़ 20 लाख और भूमि-पूजन के कार्यों की लागत 12.13 करोड़ रूपये है। इस तरह कुल 14.33 करोड़ के कार्यों की सौगात नसरुल्लागंज वासियों को प्राप्त हुई है। कार्यक्रम में स्वास्थ्य मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी और सांसद रमाकांत भार्गव भी वर्चुअली सम्मलित हुए। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रथम सुख निरोगी काया ही होता है। प्रत्येक व्यक्ति का प्रयास होना चाहिए कि वह अस्वस्थ न हो। यदि अस्वस्थ हो भी जाए तो समय पर उपचार की सुविधा मिल जाना चाहिए। मध्यप्रदेश सरकार ने कोरोना काल में दूसरी लहर के समय ऑक्सीजन की व्यवस्था के लिए भरसक प्रयास किए। जहाँ उपचार की व्यवस्था अपर्याप्त थी, वहाँ अस्थायी अस्पताल भी प्रारंभ किए गए। रोगियों को इलाज सहित अन्य सुविधाएँ उपलब्ध करवाई गईं। नसरुल्लागंज में 300 लीटर क्षमता के ऑक्सीजन संयंत्र की व्यवस्था हो जाने से स्थानीय रोगियों को होशंगाबाद और भोपाल जाने की विवश्ता से मुक्ति मिलेगी। छोटी-मोटी जाँचों के लिए भी बाहर जाना होता था। अब लेब शुरु हो जाने से यह कार्य भी नसरुल्लागंज में हो सकेगा। चौहान ने कहा कि सिविल अस्पताल में विकसित सुविधाओं का लाभ आसपास के क्षेत्र के लोगों को भी प्राप्त होगा। प्रसव सुविधा के साथ ही ऑपरेशन की स्थिति में आवश्यक सुविधाओं की उपलब्धता भी होगी। मुख्यमंत्री चौहान ने बताया कि बुधनी शत-प्रतिशत वैक्सीनेशन की स्थिति में आ गया है। ऐसा ही कार्य नसरुल्लागंज में होना चाहिए। कोरोना की नई लहर की आशंका को समाप्त करने में इससे सहयोग मिलेगा। मुख्यमंत्री चौहान ने आमजन से कोरोना से बचाव के नियमों का पालन करने का अनुरोध भी किया। स्वास्थ्य मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी ने कहा कि मध्यप्रदेश का कोरोना कंट्रोल मॉडल पूरे देश में प्रशंसित हुआ है। दूसरी लहर के समय मुख्यमंत्री चौहान ने देश के अन्य हिस्सों से लिक्विड ऑक्सीजन बुलवाकर नेतृत्व क्षमता प्रमाणित की। आज मध्यप्रदेश 2020 के प्रारंभ में शून्य प्लांट की स्थिति से 179 ऑक्सीजन प्लांट की स्थिति में आ गया है। विभिन्न मदों से व्यवस्था कर संयंत्रों को प्रारंभ करने का अभियान चल रहा है। विदिशा–रायसेन संसदीय क्षेत्र के सांसद रमाकांत भार्गव ने भी कार्यक्रम को संबोधित किया। इस अवसर पर नसरुल्लागंज में गुरुप्रसाद शर्मा सहित अनेक जन-प्रतिनिधि और अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य मो. सुलेमान और स्वास्थ्य आयुक्त आकाश त्रिपाठी ई-लोकार्पण कार्यक्रम में उपस्थित थे।  

Dakhal News

Dakhal News 12 August 2021


sehore,Chief Minister Chouhan ,e-dedicated, new health facilities, Nasrullaganj

सीहोर। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि नसरुल्लागंज के सीहोर जिले के 50 बिस्तर क्षमता के अस्पताल को 100 बिस्तर क्षमता के अस्पताल में अपग्रेड किया जाएगा। स्वास्थ्य के क्षेत्र में प्रदेश के छोटे नगरों और कस्बों में बड़े नगरों की तरह आवश्यक सुविधाएं विकसित की जाएंगी। यह बात मुख्यमंत्री चौहान ने गुरुवार को नसरुल्लागंज सिविल अस्पताल में 1 करोड़ 40 लाख की लागत से स्थापित ऑक्सीजन प्लांट और 80 लाख की लागत से बनाई गई पेथॉलॉजी का ई-लोकार्पण करते हुए कही। मुख्यमंत्री चौहान ने इस अवसर पर सिविल अस्पताल में 10 बेड के आईसीयू और मेटरनिटी विंग के लिए भूमि-पूजन भी किया। लोकार्पित कार्यों की लागत 2 करोड़ 20 लाख और भूमि-पूजन के कार्यों की लागत 12.13 करोड़ रूपये है। इस तरह कुल 14.33 करोड़ के कार्यों की सौगात नसरुल्लागंज वासियों को प्राप्त हुई है। कार्यक्रम में स्वास्थ्य मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी और सांसद रमाकांत भार्गव भी वर्चुअली सम्मलित हुए। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रथम सुख निरोगी काया ही होता है। प्रत्येक व्यक्ति का प्रयास होना चाहिए कि वह अस्वस्थ न हो। यदि अस्वस्थ हो भी जाए तो समय पर उपचार की सुविधा मिल जाना चाहिए। मध्यप्रदेश सरकार ने कोरोना काल में दूसरी लहर के समय ऑक्सीजन की व्यवस्था के लिए भरसक प्रयास किए। जहाँ उपचार की व्यवस्था अपर्याप्त थी, वहाँ अस्थायी अस्पताल भी प्रारंभ किए गए। रोगियों को इलाज सहित अन्य सुविधाएँ उपलब्ध करवाई गईं। नसरुल्लागंज में 300 लीटर क्षमता के ऑक्सीजन संयंत्र की व्यवस्था हो जाने से स्थानीय रोगियों को होशंगाबाद और भोपाल जाने की विवश्ता से मुक्ति मिलेगी। छोटी-मोटी जाँचों के लिए भी बाहर जाना होता था। अब लेब शुरु हो जाने से यह कार्य भी नसरुल्लागंज में हो सकेगा। चौहान ने कहा कि सिविल अस्पताल में विकसित सुविधाओं का लाभ आसपास के क्षेत्र के लोगों को भी प्राप्त होगा। प्रसव सुविधा के साथ ही ऑपरेशन की स्थिति में आवश्यक सुविधाओं की उपलब्धता भी होगी। मुख्यमंत्री चौहान ने बताया कि बुधनी शत-प्रतिशत वैक्सीनेशन की स्थिति में आ गया है। ऐसा ही कार्य नसरुल्लागंज में होना चाहिए। कोरोना की नई लहर की आशंका को समाप्त करने में इससे सहयोग मिलेगा। मुख्यमंत्री चौहान ने आमजन से कोरोना से बचाव के नियमों का पालन करने का अनुरोध भी किया। स्वास्थ्य मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी ने कहा कि मध्यप्रदेश का कोरोना कंट्रोल मॉडल पूरे देश में प्रशंसित हुआ है। दूसरी लहर के समय मुख्यमंत्री चौहान ने देश के अन्य हिस्सों से लिक्विड ऑक्सीजन बुलवाकर नेतृत्व क्षमता प्रमाणित की। आज मध्यप्रदेश 2020 के प्रारंभ में शून्य प्लांट की स्थिति से 179 ऑक्सीजन प्लांट की स्थिति में आ गया है। विभिन्न मदों से व्यवस्था कर संयंत्रों को प्रारंभ करने का अभियान चल रहा है। विदिशा–रायसेन संसदीय क्षेत्र के सांसद रमाकांत भार्गव ने भी कार्यक्रम को संबोधित किया। इस अवसर पर नसरुल्लागंज में गुरुप्रसाद शर्मा सहित अनेक जन-प्रतिनिधि और अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य मो. सुलेमान और स्वास्थ्य आयुक्त आकाश त्रिपाठी ई-लोकार्पण कार्यक्रम में उपस्थित थे।  

Dakhal News

Dakhal News 12 August 2021


sehore,Chief Minister Chouhan ,e-dedicated, new health facilities, Nasrullaganj

सीहोर। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि नसरुल्लागंज के सीहोर जिले के 50 बिस्तर क्षमता के अस्पताल को 100 बिस्तर क्षमता के अस्पताल में अपग्रेड किया जाएगा। स्वास्थ्य के क्षेत्र में प्रदेश के छोटे नगरों और कस्बों में बड़े नगरों की तरह आवश्यक सुविधाएं विकसित की जाएंगी। यह बात मुख्यमंत्री चौहान ने गुरुवार को नसरुल्लागंज सिविल अस्पताल में 1 करोड़ 40 लाख की लागत से स्थापित ऑक्सीजन प्लांट और 80 लाख की लागत से बनाई गई पेथॉलॉजी का ई-लोकार्पण करते हुए कही। मुख्यमंत्री चौहान ने इस अवसर पर सिविल अस्पताल में 10 बेड के आईसीयू और मेटरनिटी विंग के लिए भूमि-पूजन भी किया। लोकार्पित कार्यों की लागत 2 करोड़ 20 लाख और भूमि-पूजन के कार्यों की लागत 12.13 करोड़ रूपये है। इस तरह कुल 14.33 करोड़ के कार्यों की सौगात नसरुल्लागंज वासियों को प्राप्त हुई है। कार्यक्रम में स्वास्थ्य मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी और सांसद रमाकांत भार्गव भी वर्चुअली सम्मलित हुए। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रथम सुख निरोगी काया ही होता है। प्रत्येक व्यक्ति का प्रयास होना चाहिए कि वह अस्वस्थ न हो। यदि अस्वस्थ हो भी जाए तो समय पर उपचार की सुविधा मिल जाना चाहिए। मध्यप्रदेश सरकार ने कोरोना काल में दूसरी लहर के समय ऑक्सीजन की व्यवस्था के लिए भरसक प्रयास किए। जहाँ उपचार की व्यवस्था अपर्याप्त थी, वहाँ अस्थायी अस्पताल भी प्रारंभ किए गए। रोगियों को इलाज सहित अन्य सुविधाएँ उपलब्ध करवाई गईं। नसरुल्लागंज में 300 लीटर क्षमता के ऑक्सीजन संयंत्र की व्यवस्था हो जाने से स्थानीय रोगियों को होशंगाबाद और भोपाल जाने की विवश्ता से मुक्ति मिलेगी। छोटी-मोटी जाँचों के लिए भी बाहर जाना होता था। अब लेब शुरु हो जाने से यह कार्य भी नसरुल्लागंज में हो सकेगा। चौहान ने कहा कि सिविल अस्पताल में विकसित सुविधाओं का लाभ आसपास के क्षेत्र के लोगों को भी प्राप्त होगा। प्रसव सुविधा के साथ ही ऑपरेशन की स्थिति में आवश्यक सुविधाओं की उपलब्धता भी होगी। मुख्यमंत्री चौहान ने बताया कि बुधनी शत-प्रतिशत वैक्सीनेशन की स्थिति में आ गया है। ऐसा ही कार्य नसरुल्लागंज में होना चाहिए। कोरोना की नई लहर की आशंका को समाप्त करने में इससे सहयोग मिलेगा। मुख्यमंत्री चौहान ने आमजन से कोरोना से बचाव के नियमों का पालन करने का अनुरोध भी किया। स्वास्थ्य मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी ने कहा कि मध्यप्रदेश का कोरोना कंट्रोल मॉडल पूरे देश में प्रशंसित हुआ है। दूसरी लहर के समय मुख्यमंत्री चौहान ने देश के अन्य हिस्सों से लिक्विड ऑक्सीजन बुलवाकर नेतृत्व क्षमता प्रमाणित की। आज मध्यप्रदेश 2020 के प्रारंभ में शून्य प्लांट की स्थिति से 179 ऑक्सीजन प्लांट की स्थिति में आ गया है। विभिन्न मदों से व्यवस्था कर संयंत्रों को प्रारंभ करने का अभियान चल रहा है। विदिशा–रायसेन संसदीय क्षेत्र के सांसद रमाकांत भार्गव ने भी कार्यक्रम को संबोधित किया। इस अवसर पर नसरुल्लागंज में गुरुप्रसाद शर्मा सहित अनेक जन-प्रतिनिधि और अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य मो. सुलेमान और स्वास्थ्य आयुक्त आकाश त्रिपाठी ई-लोकार्पण कार्यक्रम में उपस्थित थे।  

Dakhal News

Dakhal News 12 August 2021


sehore,Chief Minister Chouhan ,e-dedicated, new health facilities, Nasrullaganj

सीहोर। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि नसरुल्लागंज के सीहोर जिले के 50 बिस्तर क्षमता के अस्पताल को 100 बिस्तर क्षमता के अस्पताल में अपग्रेड किया जाएगा। स्वास्थ्य के क्षेत्र में प्रदेश के छोटे नगरों और कस्बों में बड़े नगरों की तरह आवश्यक सुविधाएं विकसित की जाएंगी। यह बात मुख्यमंत्री चौहान ने गुरुवार को नसरुल्लागंज सिविल अस्पताल में 1 करोड़ 40 लाख की लागत से स्थापित ऑक्सीजन प्लांट और 80 लाख की लागत से बनाई गई पेथॉलॉजी का ई-लोकार्पण करते हुए कही। मुख्यमंत्री चौहान ने इस अवसर पर सिविल अस्पताल में 10 बेड के आईसीयू और मेटरनिटी विंग के लिए भूमि-पूजन भी किया। लोकार्पित कार्यों की लागत 2 करोड़ 20 लाख और भूमि-पूजन के कार्यों की लागत 12.13 करोड़ रूपये है। इस तरह कुल 14.33 करोड़ के कार्यों की सौगात नसरुल्लागंज वासियों को प्राप्त हुई है। कार्यक्रम में स्वास्थ्य मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी और सांसद रमाकांत भार्गव भी वर्चुअली सम्मलित हुए। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रथम सुख निरोगी काया ही होता है। प्रत्येक व्यक्ति का प्रयास होना चाहिए कि वह अस्वस्थ न हो। यदि अस्वस्थ हो भी जाए तो समय पर उपचार की सुविधा मिल जाना चाहिए। मध्यप्रदेश सरकार ने कोरोना काल में दूसरी लहर के समय ऑक्सीजन की व्यवस्था के लिए भरसक प्रयास किए। जहाँ उपचार की व्यवस्था अपर्याप्त थी, वहाँ अस्थायी अस्पताल भी प्रारंभ किए गए। रोगियों को इलाज सहित अन्य सुविधाएँ उपलब्ध करवाई गईं। नसरुल्लागंज में 300 लीटर क्षमता के ऑक्सीजन संयंत्र की व्यवस्था हो जाने से स्थानीय रोगियों को होशंगाबाद और भोपाल जाने की विवश्ता से मुक्ति मिलेगी। छोटी-मोटी जाँचों के लिए भी बाहर जाना होता था। अब लेब शुरु हो जाने से यह कार्य भी नसरुल्लागंज में हो सकेगा। चौहान ने कहा कि सिविल अस्पताल में विकसित सुविधाओं का लाभ आसपास के क्षेत्र के लोगों को भी प्राप्त होगा। प्रसव सुविधा के साथ ही ऑपरेशन की स्थिति में आवश्यक सुविधाओं की उपलब्धता भी होगी। मुख्यमंत्री चौहान ने बताया कि बुधनी शत-प्रतिशत वैक्सीनेशन की स्थिति में आ गया है। ऐसा ही कार्य नसरुल्लागंज में होना चाहिए। कोरोना की नई लहर की आशंका को समाप्त करने में इससे सहयोग मिलेगा। मुख्यमंत्री चौहान ने आमजन से कोरोना से बचाव के नियमों का पालन करने का अनुरोध भी किया। स्वास्थ्य मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी ने कहा कि मध्यप्रदेश का कोरोना कंट्रोल मॉडल पूरे देश में प्रशंसित हुआ है। दूसरी लहर के समय मुख्यमंत्री चौहान ने देश के अन्य हिस्सों से लिक्विड ऑक्सीजन बुलवाकर नेतृत्व क्षमता प्रमाणित की। आज मध्यप्रदेश 2020 के प्रारंभ में शून्य प्लांट की स्थिति से 179 ऑक्सीजन प्लांट की स्थिति में आ गया है। विभिन्न मदों से व्यवस्था कर संयंत्रों को प्रारंभ करने का अभियान चल रहा है। विदिशा–रायसेन संसदीय क्षेत्र के सांसद रमाकांत भार्गव ने भी कार्यक्रम को संबोधित किया। इस अवसर पर नसरुल्लागंज में गुरुप्रसाद शर्मा सहित अनेक जन-प्रतिनिधि और अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य मो. सुलेमान और स्वास्थ्य आयुक्त आकाश त्रिपाठी ई-लोकार्पण कार्यक्रम में उपस्थित थे।  

Dakhal News

Dakhal News 12 August 2021


gwalior, All possible help, victims in the time, calamity,Union Minister Scindia

ग्वालियर। केन्द्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा है कि अति वर्षा के कारण ग्वालियर-चंबल संभाग के जिलों में भारी नुकसान हुआ है। इस विपदा में पीड़ित परिवारों को हर संभव सहायता उपलब्ध कराने के लिये केन्द्र सरकार एवं प्रदेश सरकार पूरी शिद्दत के साथ कार्य कर रही है। पीड़ितों को भोजन, पानी एवं अन्य सामग्री की आपूर्ति भी शासकीय प्रयासों के साथ-साथ जनभागीदारी से की जा रही है। सिंधिया ने रविवार सुबह मोतीमहल से खाद्य सामग्री के तीन ट्रक जिले के डबरा एवं भितरवार के ग्रामीण क्षेत्र में प्रभावित लोगों के वितरण हेतु रवाना किए। इस दौरान उन्होंने कहा कि अति वर्षा के कारण जो नुकसान हुआ है, उसका आंकलन शासन स्तर से किया जा रहा है। हर पीड़ित को मदद उपलब्ध कराने के लिये सरकार कटिबद्ध है। सिंधिया ने इस मौके पर ग्वालियर जिले में अति वर्षा के कारण तीन लोगों की मृत्यु होने पर उनके परिजनों को संबल योजना के तहत 4-4 लाख रुपये की राहत राशि के चैक भी वितरित किए।इस मौके पर प्रदेश के जल संसाधन मंत्री तुलसीराम सिलावट, ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर, भाजपा के जिला अध्यक्ष कमल माखीजानी, ग्रामीण अध्यक्ष कौशल शर्मा, पूर्व अध्यक्ष वेदप्रकाश शर्मा, पूर्व विधायक मुन्नालाल गोयल, पूर्व विधायक मदन कुशवाह, मोहन सिंह राठौर, संभागीय आयुक्त आशीष सक्सेना, आईजी ग्वालियर अविनाश शर्मा, कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह, पुलिस अधीक्षक अमित सांघी सहित विभागीय अधिकारी और जनप्रतिनिधि उपस्थित थे।केन्द्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने स्मार्ट सिटी के कंट्रोल कमाण्ड सेंटर में स्मार्ट सिटी के द्वारा ग्वालियर संभाग की विभिन्न नदियों और बांधों की वर्तमान स्थिति तथा प्रभावित क्षेत्र के संबंध में तैयार किए गए प्रजेण्टेशन को भी देखा और स्थिति के बारे में जानकारी प्राप्त की। उन्होंने अधिकारियों से कहा कि प्रत्येक नदी एवं बांध की निरंतर मॉनीटरिंग की जाए। इसके साथ ही मौसम विभाग की सूचनाओं के आधार पर भी आगामी रणनीति बनाई जाए।सिंधिया ने कहा कि ग्वालियर जिले के डबरा एवं भितरवार में जो ग्राम अति वर्षा से प्रभावित हुए हैं, वहां पर राहत सामग्री के साथ-साथ लोगों को बांस-बल्ली, तिरपाल, रस्सी आदि भी उपलब्ध कराई जाए ताकि वे अस्थायी रूप से अपने रहने की व्यवस्था कर सकें। जिन आवासों को नुकसान हुआ है उन्हें सरकार की ओर से आवास की उपलब्धता की दिशा में कार्य किया जा रहा है। प्रभावित व्यक्तियों को हुई क्षति के आंकलन का कार्य भी प्रशासन तत्परता से करें।संभागीय आयुक्त आशीष सक्सेना ने ग्वालियर संभाग के विभिन्न जिलों में अति वर्षा से हुए नुकसान और शासन-प्रशासन द्वारा किए जा रहे राहत कार्यों के संबंध में विस्तार से जानकारी दी। उन्होंने बताया कि जिला स्तर से और संभाग स्तर से भी निरंतर मॉनीटरिंग की जा रही है। ग्वालियर और मुरैना जिले से श्योपुर जिले के लिये राहत सामग्री के ट्रक निरंतर भेजे जा रहे हैं। आगे भी जो आवश्यकतायें होंगी उसकी पूर्ति की जायेगी।कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने बताया कि भितरवार और डबरा में बाढ़ प्रभावित लोगों को सहायता उपलब्ध कराने की दिशा में तेजी से कार्य किया जा रहा है। प्रभावित क्षेत्रों में स्वास्थ्य केन्द्र भी प्रारंभ कर दिए गए हैं। खाद्यान्न की उपलब्धता भी सुनिश्चित की गई है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के द्वारा दिए गए निर्देश के परिपालन में प्रत्येक प्रभावित को 50-50 किलो खाद्यान्न नि:शुल्क उपलब्ध कराया गया है। नुकसान के आंकलन की दिशा में भी तेजी से कार्य किया जा रहा है।संबल योजना के तीन परिवारों को 4 – 4 लाख की सहायता   ग्वालियर जिले में मोहना एवं भितरवार क्षेत्र में अति वर्षा के कारण तीन लोगों की मृत्यु हो जाने पर संबल योजना के तहत 4-4 लाख रुपये की राशि स्वीकृत की गई। केन्द्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने मृतकों के परिजनों को सहायता राशि के चैक वितरित किए। जिन प्रकरणों में सहायता राशि वितरित की गई है उनमें मोहना के मोनू राठौर और हेमंत शिवहरे तथा भितरवार क्षेत्र के लच्छी आदिवासी शामिल हैं। इन तीनों की अति वर्षा के कारण मृत्यु हो गई थी।  

Dakhal News

Dakhal News 8 August 2021


bhopal,Shivraj government ,does not miss ,any opportunity ,harass farmers

भोपाल। मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने मध्यप्रदेश के किसान भाईयों की समस्याओं पर सवाल उठाते हुये कहा कि प्रदेश की शिवराज सरकार किसान भाईयों को परेशान करने का कोई मौका नही चूकती है ? कमलनाथ ने रविवार को एक बयान जारी कर कहा कि आज किसान भाई को खेती के लिए यूरिया की आवश्यकता है और यूरिया नही मिल रहा है। किसान यूरिया के लिए दर-दर भटक रहा है, सोसायटियों से किसान बेरंग लौट रहा है। कही यूरिया मिल जाये तो किसानों को 268 रूपये के यूरिया की बोरी 600 से लेकर 800 रूपये तक में मिल रही है।यूरिया की जमकर कालाबाजारी हो रही है।यूरिया खरीदने के लिए किसानों को अन्य सामग्रीयां भी उसी दुकान से खरीदने को मजबूर किया जा रहा है ?पूर्व सीएम ने प्रदेश सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि प्रदेश में मूंग का बम्पर उत्पादन हुआ है परन्तु आज किसान मूंग बेचने को परेशान हो रहा है। शिवराज सरकार रोज घोषणा करती है कि किसानों का एक-एक दाना खरीदा जायेगा ,पर केन्द्र सरकार द्वारा जो खरीदी के लिए कोटा दिया गया वो अपर्याप्त है? प्रदेश में 03 लाख से अधिक किसान भाईयों के पास लगभग 12 लाख मीट्रिक टन मूँग का उत्पादन हुआ है,जबकि सरकार पहले 1.34 लाख मीट्रिक टन और अब 2.47 लाख मीट्रिक टन खरीदने की बात कर रही है। आज तक के कोटे से किसानों का एक-एक दाना कैसे खरीदा जायेगा ?कमलनाथ ने आरोप लगाते हुए कहा कि किसान भाईयों के फसलों के बीमें किये गये, प्रीमियम काटकर जमा किये गये, पर जब फसलें खराब हो गई तो बीमें की राशि का अता-पता नही? सरकार गत 02 वर्षो के बीमें की पूर्ण राशि उपलब्ध कराने में असफल रही है ? किसान भाई अपना क्लेम कर चुके है परन्तु क्लेम की राशि नही मिल रही है? सरकार प्रीमियम की राशि जमा करने का प्रचार तो करती रहती है परन्तु किसान भाईयों को क्लेम नही मिलने पर मौन बैठी रहती है ?प्रदेश में किसान भाईयों की मृत्यु होने पर उन्हे मंडी बोर्ड से 4 लाख सहायता राशि देने का प्रावधान है परन्तु यह राशि भी किसान भाईयों को नही मिल पा रही है ?कमलनाथ ने मांग करते हुए कहा कि मैं सरकार से आग्रह करता हॅू कि अपने वादे के मुताबिक किसानों से एक-एक दाना मूंग खरीदा जाये, इसके लिए कोटे को और बढ़ाया जाये ताकि किसान भाई फसल बेचने को परेशान न हो। किसान भाईयों को यूरिया और डीएपी नियत मूल्य पर सरलता से उपलब्ध हो, यह सुनिश्चित किया जाये। काला बाजारी करने वाले पर कड़ी कार्यवाही की जाये, नकली खाद एवं नकली दवाईयों के संबंध में उत्पादक कम्पनियों पर कार्यवाही की जाये ताकि नकली एवं मिलावटी खाद एवं दवाईयों पर रोक लग सके। सरकार कुछ ऐसे कार्यवाही करे कि किसानों को वास्तविक राहत मिले। उन्होंने कहा कि कांग्रेस किसान भाईयों के साथ खड़ी है और किसानों की मांगे पूरी न होने पर आन्दोलन भी करेगी।

Dakhal News

Dakhal News 8 August 2021


bhopal, CM Shivraj , Speaker of Assembly ,released unparliamentary words  book

भोपाल। मध्य प्रदेश विधानसभा का मानसून सत्र कल यानी सोमवार शुरू हो रहा है। 12 अगस्त तक चलने वाले सत्र के सुचारू संचालन के लिए विधानसभा अध्यक्ष गिरीश गौतम ने आज सर्वदलीय बैठक बुलाई है। सर्वदलीय बैठक में सदन के नेता मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, नेता प्रतिपक्ष कमल नाथ सहित अन्य वरिष्ठ सदस्य मौजूद रहे। इस दौरान विधानसभा सचिवालय ने सदस्यों के उपयोग के लिए तैयार की गई। असंसदीय शब्द और वाक्यांश संग्रह पुस्तिका का विमोचन भी किया गया। इस मौके पर सीएम शिवराज ने कहा कि विधानसभा में सत्र की कार्यवाही देखने कॉलेजों के बच्चे भी आते हैं, लेकिन विधानसभा की कार्यवाही देखकर निराश होते हैं। वहीं विधानसभा कार्यवाही को मच्छी बाजार समझा जाता है। विधानसभा कोई ईट गारों का भवन नहीं यह लोकतंत्र का मंदिर है। कई बार विस बहस के दौरान अपशब्द बोल जाते हैं। हमारी संस्कृति परंपराएं शिष्टाचार को महत्व देती है। कई शब्द तो हमें भी नहीं पता था कि यह असंसदीय हैं। आज इस पुस्तक को पढक़र पता चला। इस पहल पर सीएम शिवराज ने विधानसभा अध्यक्ष को धन्यवाद दिया। बता दें कि नए नियम के अनुसार अब विधानसभा सदस्य सदन में पप्पू, फेंकू, तड़ीपार, चोर, बंटाढार सहित ऐसे कई शब्दों का उपयोग नहीं कर सकेंगे। सूची में असंसदीय शब्दों और वाक्यांशों की संख्या 1560 है। 40 पेज की पुस्तिका में इन्हें शामिल किया गया है। ये ऐसे शब्द व वाक्यांश हैं जिन्हें पहली विधानसभा से लेकर पिछले विधानसभा सत्र तक कार्यवाही के दौरान विलोपित कराए गए हैं। संसदीय प्रथा के रक्षक हम सब: कमलनाथ कार्यक्रम में पूर्व सीएम कमलनाथ ने कहा कि अम्बेडकर जी ने संविधान समर्पित किया था। उसके मायने थे कि भारत का प्रजातंत्र विश्व में उदाहरण बने। प्रजातंत्र की नींव हमारी संसद और विधानसभा हैं। संसदीय प्रथा के रक्षक हम सब हैं। फिर ये असंसदीय प्रथा कैसे बढ़ती है। चार दिन की होगी कार्यवाही विधानसभा के प्रमुख सचिव एपी सिंह के अनुसार, सत्र की अधिसूचना जारी होने से अब तक विधानसभा सचिवालय में कुल 1184 प्रश्नों की सूचना प्राप्त हुई है, जबकि ध्यानाकर्षण की 236, स्थगन प्रस्ताव की 17, शून्यकाल की 40, अशासकीय संकल्प की 14 एवं 139 अविलंवनीय लोक महत्व की चर्चा की आठ, याचिकाओं की 15 तथा शासकीय विधेयकों की तीन तथा लंबित विधेयकों की दो सूचनाएं प्राप्त हुई हैं।  

Dakhal News

Dakhal News 8 August 2021


bhopal, Will take a sigh ,relief only after ,restoring normalcy

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि अति वृष्टि और बाढ़ की स्थिति से प्रभावित क्षेत्रों में सामान्य स्थिति बहाल करके ही हम चैन की साँस लेंगे। संकट की इस घड़ी में राज्य सरकार हर बाढ़ प्रभावित के साथ है। गाँवों में जब तक घरों में भोजन बनाने की स्थिति नहीं बन जाती, तब तक भोजन प्रदाय की प्रभावी व्यवस्था सुनिश्चित की जाए। प्रत्येक प्रभावित परिवार को 50 किलो गेहूँ तत्काल प्रदान किया जाये। बिजली व्यवस्था को पुनर्स्थापित करने और मोबाइल नेटवर्क की पुनर्स्थापना को सर्वोच्च प्राथमिकता दी जाए। जिन परिवारों के घर ढह गए हैं उनके लिए छत की व्यवस्था करना राज्य सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता है। मुख्यमंत्री चौहान गुरुवार को ग्वालियर-चंबल संभाग के प्रभारी मंत्री, स्थानीय मंत्री, कमिश्नर एवं कलेक्टर्स के साथ राहत के संबंध में निवास से वीसी द्वारा चर्चा कर रहे थे। केन्द्र सरकार निरंतर जानकारी ले रही है उन्होंने कहा कि उप राष्ट्रपति एम. वैंकैया नायडू, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह और केंद्रीय ग्रामीण विकास मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर स्थिति की सतत जानकारी ले रहे हैं। केंद्र से हरसंभव सहयोग प्राप्त हो रहा है। मोबाइल नेटवर्क तथा रेल मार्ग पुन: स्थापित करने में त्वरित रूप से सहायता प्राप्त हो रही है। राहत शिविरों में भोजन,पेयजल और उपचार की व्यवस्था हो मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि राहत शिविरों में भोजन, पीने के पानी, पर्याप्त दवाओं, बीमार व्यक्तियों के परीक्षण और उपचार की व्यवस्था की जाए। यह सुनिश्चित करना आवश्यक है कि राहत शिविरों में बीमारी नहीं फैले। वर्चुअली सम्मिलित हुए मंत्री उन्होंने कहा कि सभी कलेक्टर तथा प्रशासनिक अमला पूर्ण दक्षता व युक्ति से राहत और बचाव कार्यों का क्रियान्वयन करें। यह परीक्षा की घड़ी है। गृह मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस तथा अन्य अधिकारी बैठक में उपस्थित थे। मुख्यमंत्री चौहान ने दतिया, गुना, ग्वालियर, मुरैना, भिंड, शिवपुरी और शयोपुर की स्थिति की वर्चुअली जानकारी ली। ग्वालियर से ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर, भिंड से सहकारिता मंत्री अरविंद सिंह भदोरिया, मुरैना से उद्यानिकी एवं खाद्य प्र-संस्करण (स्वतंत्र प्रभार) राज्य मंत्री भारत सिंह कुशवाह और शिवपुरी से खेल एवं युवा कल्याण मंत्री यशोधरा राजे सिंधिया वीडियो कांफ्रेंस में वर्चुअली सम्मिलित हुए। जल संसाधन मंत्री तुलसीराम सिलावट और नगरीय विकास एवं आवास राज्य मंत्री ओ.पी.एस. भदौरिया ने भी कांफ्रेंस में भाग लिया। राहत और बचाव कार्य जारी वीडियो कांफ्रेंस में अवगत कराया गया कि एनडीईआरएफ की 3-3 टीमें क्रमश: शिवपुरी, मुरैना और भिंड में बचाव और राहत कार्य में जुटी हैं। वायु सेना के 5 हेलीकॉप्टर भी कार्यरत हैं। नावों से बचाव कार्य जारी है। आज प्रात: 5.30 बजे से आरंभ हुए बचाव कार्य में 221 लोगों को सुरक्षित स्थल पर पहुँचाया गया। एनडीईआरएफ, एसडीईआरएफ, बीएसएफ भी जिलों में लगातार बचाव के कार्य में लगी हैं। श्योपुर में तबाही अधिक मुख्यमंत्री ने कहा कि श्योपुर में बहुत अधिक तबाही हुई है। लोगों को सहायता की जरूरत है। ग्वालियर और मुरैना कलेक्टर, श्योपुर में व्यवस्थाएँ पुन: स्थापित करने और जन-सामान्य को भोजन, पेयजल, दवाएँ तथा अन्य आवश्यक राहत उपलब्ध कराने में हरसंभव मदद करें। हर दो घंटे में सूखी खाद्य सामग्री भेजना सुनिश्चित किया जाए। मुख्यमंत्री ने सामाजिक संगठनों से भी सहयोग की अपील की। मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर ने अवगत कराया कि ग्वालियर से भोजन के 5 हजार पेकेट श्योपुर भेजे जा रहे हैं। प्रभारी मंत्री आवश्यक समन्वय करें मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि जिन जिलों में बिजली की व्यवस्था प्रभावित हुई है, वहाँ आस-पड़ोस के जिलों से सहयोग लेकर व्यवस्था स्थापित की जाए। डॉक्टरों और पैरामेडिकल स्टाफ को भी आवश्यकता वाले राहत शिविरों में पहुँचाया जाए। प्रभारी मंत्री इन कार्यों के लिए आवश्यक समन्वय करें। अफवाह फैलाने वालों पर एफ.आई.आर. दर्ज की जाए गृह मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि क्षेत्र में बांध टूटने की अफवाहों से लोगों में भय और भगदड़ का माहौल बनता है। अफवाहों पर नियंत्रण करने के लिए आवश्यक उपाय किए जाएं। अफवाह फैलाने वालों पर एफ.आई.आर. दर्ज की जाए। मुख्यमंत्री ने कोटा बैराज की स्थिति, बांध से छोड़े जा रहे पानी और उसके भिंड एवं मुरैना में होने वाले संभावित प्रभाव की जानकारी भी ली। जिला कलेक्टरों ने दी जानकारी वीडियो कांफ्रेंस में श्योपुर कलेक्टर ने बताया कि प्रारंभिक आकलन के अनुसार 89 ग्राम के लगभग 19 हजार लोग प्रभावित हुए हैं। अब तक 5 जनहानि की सूचना है। शिवपुरी में 200 लोगों को सुरक्षित स्थान पर पहुँचाने का कार्य जारी है। दतिया कलेक्टर ने अवगत कराया कि 36 गाँवों के 12 हजार परिवार प्रभावित हुए हैं। जिले में 8 राहत शिविर संचालित हैं। कुल 1165 लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुँचाया गया है। बचाव कार्य पूरा हो गया है। ग्वालियर में 46 गांव प्रभावित हुए हैं और 7 केम्प में 1500 लोग मौजूद हैं। गुना में 27 और मुरैना में 15 केम्प संचालित हैं। जल-स्तर नीचे उतर रहा है।

Dakhal News

Dakhal News 5 August 2021


bhopal,MP Vice President, inquired about flood situation , relief work

भोपाल। उप राष्ट्रपति एम. वेंकैया नायडू ने गुरुवार को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से फोन पर बात कर मध्यप्रदेश में बाढ़ की स्थिति और राहत कार्यों की जानकारी ली। मुख्यमंत्री चौहान ने बाढ़ पीड़ितों की चिंता करने पर उपराष्ट्रपति का आभार व्यक्त किया है। मुख्यमंत्री चौहान ने ट्वीट के माध्यम से कहा है कि -आज उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू जी से फोन पर बात कर मध्यप्रदेश में बाढ़ की स्थिति और राहत कार्यों की जानकारी दी। मैंने उन्हें अवगत कराया है कि श्योपुर, शिवपुरी, दतिया, भिंड और मुरैना ज़िले बाढ़ प्रभावित हैं। उन्होंने बताया कि बाढ़ प्रभावित जिलों में बीएसएफ, एसडीआरएफ, एनडीआरएफ और वायुसेना के हेलीकॉप्टरों की मदद से नागरिकों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाने का कार्य जारी है। मध्यप्रदेश पुलिस और अन्य बचाव दल नागरिकों को सुरक्षित स्थानों तक पहुंचाने का काम निरंतर कर रहे हैं। उन्होंने बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में चल रहे राहतकार्यों, राहत शिविरों की व्यवस्थाएं और अन्य बुनियादी व्यवस्थाओं से अवगत कराया है।मुख्यमंत्री चौहान ने अगले ट्वीट में कहा है कि उपराष्ट्रपति जी ने मध्यप्रदेश में बाढ़ पीड़ितों के प्रति अपनी चिंता व्यक्त की है, जिसके लिए मैं उनका हृदय से आभारी हूँ।  

Dakhal News

Dakhal News 5 August 2021


bhopal, CM announces , one crore rupees , Vivek Sagar and Neelkanta Sharma

भोपाल। ओलंपिक खेलों में अपनी-अपनी टीमों की ओर से शानदार प्रदर्शन करने वाले हॉकी खिलाड़ियों विवेक सागर और नीलकांता शर्मा ने मध्यप्रदेश हॉकी अकादमी में प्रशिक्षण लिया है। मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने इन दोनों ही खिलाड़ियों को एक-एक करोड़ रुपये की सम्मान निधि दिये जाने की घोषणा की है। भारत की पुरुष और महिला हॉकी टीमों में शामिल प्रदेश में प्रशिक्षित खिलाड़ियों के प्रदर्शन से खुश होकर मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने उन्हें एक-एक करोड़ रुपये दिये जाने की घोषणा की है। मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने ट्वीट करके कहा है कि भारतीय पुरुष हॉकी टीम ने टोक्यो 2020 में सर्वश्रेष्ठ टीमों को हराया है। इटारसी के लाल विवेक सागर टीम का हिस्सा हैं, नीलकांता शर्मा ने मध्यप्रदेश हॉकी एकेडमी से ट्रेनिंग ली है। इन दोनों खिलाड़ियों को एक-एक करोड़ रुपये की सम्मान निधि मध्यप्रदेश सरकार प्रदान करेगी।

Dakhal News

Dakhal News 5 August 2021


bhopal, Chief Minister ,congratulated ,Madhya Pradesh hockey player ,Vivek Sagar

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सोमवार को मध्यप्रदेश के निवासी भारतीय हॉकी टीम के सदस्य विवेक सागर को फोन कर श्रेष्ठ प्रदर्शन के लिए बधाई दी। मुख्यमंत्री चौहान ने विवेक सागर से बातचीत करते हुए कहा, "टोक्यो ओलंपिक में आपके और भारतीय हाकी टीम के शानदार प्रदर्शन के लिए बहुत-बहुत शुभकामनाएं, मुझे आप पर गर्व है और पूरा विश्वास है कि भारतीय हाकी टीम निरंतर सफलताएँ अर्जित करेगी। आप खेलो और जीतो, मध्यप्रदेश की जनता की तरफ से बहुत बधाई।"मुख्यमंत्री ने आशा व्यक्त की है कि होशंगाबाद जिले के निवासी विवेक सागर और अन्य खिलाड़ियों ने भारतीय हॉकी टीम के सदस्य के रूप में शानदार प्रदर्शन किया है। इसी सप्ताह विवेक सागर ने अर्जेंटीना के विरुद्ध हॉकी ओलंपिक मैच में गोल भी किया था, जिसके फलस्वरूप भारत की टीम विजयी रही। भारतीय टीम की विजय-यात्रा जारी है। विवेक सागर के अच्छे प्रदर्शन से भारतीय टीम 3 - 1 से विजयी होकर क्वार्टर फाइनल में पहुँची थी। अब भारतीय टीम सेमीफाइनल में पहुँच गई है। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि विवेक सागर ने मध्यप्रदेश का यश बढ़ाया है। प्रदेश में खिलाड़ियों के प्रोत्साहन की नीति से अनेक प्रतिभाएँ राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर बेहतर प्रदर्शन कर रही हैं।

Dakhal News

Dakhal News 2 August 2021


bhopal, Chief Minister ,congratulated ,Madhya Pradesh hockey player ,Vivek Sagar

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सोमवार को मध्यप्रदेश के निवासी भारतीय हॉकी टीम के सदस्य विवेक सागर को फोन कर श्रेष्ठ प्रदर्शन के लिए बधाई दी। मुख्यमंत्री चौहान ने विवेक सागर से बातचीत करते हुए कहा, "टोक्यो ओलंपिक में आपके और भारतीय हाकी टीम के शानदार प्रदर्शन के लिए बहुत-बहुत शुभकामनाएं, मुझे आप पर गर्व है और पूरा विश्वास है कि भारतीय हाकी टीम निरंतर सफलताएँ अर्जित करेगी। आप खेलो और जीतो, मध्यप्रदेश की जनता की तरफ से बहुत बधाई।"मुख्यमंत्री ने आशा व्यक्त की है कि होशंगाबाद जिले के निवासी विवेक सागर और अन्य खिलाड़ियों ने भारतीय हॉकी टीम के सदस्य के रूप में शानदार प्रदर्शन किया है। इसी सप्ताह विवेक सागर ने अर्जेंटीना के विरुद्ध हॉकी ओलंपिक मैच में गोल भी किया था, जिसके फलस्वरूप भारत की टीम विजयी रही। भारतीय टीम की विजय-यात्रा जारी है। विवेक सागर के अच्छे प्रदर्शन से भारतीय टीम 3 - 1 से विजयी होकर क्वार्टर फाइनल में पहुँची थी। अब भारतीय टीम सेमीफाइनल में पहुँच गई है। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि विवेक सागर ने मध्यप्रदेश का यश बढ़ाया है। प्रदेश में खिलाड़ियों के प्रोत्साहन की नीति से अनेक प्रतिभाएँ राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर बेहतर प्रदर्शन कर रही हैं।

Dakhal News

Dakhal News 2 August 2021


bhopal, Masked miscreants attacked, Mirchi Baba

भोपाल। वैराग्यानंद गिरी महाराज उर्फ मिर्ची बाबा पर रविवार देर रात 11 बजे नकाबपोश बदमाशों ने हमला कर दिया। बदमाशों ने जड़ेरूआ आश्रम से निकलते ही उन्हें घेर लिया। पहले कार पर डंडे और पथराव किया। इस दौरान कांच लगने से मिर्ची बाबा घायल हो गए। हमलावर बाबा को निशाना बनाते, उससे पहले उन्होंने भागकर अपनी जान बचाई। मिर्ची बाबा पर हुए हमले को लेकर मप्र के पूर्व सीएम और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्षक कमलनाथ ने ट्वीट कर सरकार पर सवाल उठाए है। कमलनाथ ने ट्वीट कर कहा कि ‘शिवराज सरकार में अब साधु- संत भी सुरक्षित नही? धर्म गुरु महामंडलेश्वर स्वामी वैराग्य नंद गिरी महाराज (मिर्ची बाबा) के ग्वालियर प्रवास के दौरान कुछ असामाजिक तत्वों द्वारा उनके वाहन पर हमला कर उन्हें नुक़सान पहुँचाने का प्रयास किया गया, जो अत्यंत निंदनीय है। मिर्ची बाबा लगातार गौ सेवा को लेकर कार्य कर रहे है। मैं सरकार से माँग करता हूँ कि घटना के दोषियों पर कड़ी कार्यवाही हो व मिर्ची बाबा को पूर्ण सुरक्षा प्रदान की जाए। बता दें कि स्वामी वैराग्यानंद गिरी महाराज उर्फ मिर्ची बाबा को कमलनाथ सरकार में राज्यमंत्री का दर्जा प्राप्त था। मिर्ची बाबा काफी समय से ग्वालियर-चंबल अंचल में सक्रिय हैं और लगातार गायों को बचाने के लिए आंदोलन कर रहे हैं।

Dakhal News

Dakhal News 2 August 2021


bhopal, MP government ,strict laws against, online game companies

भोपाल। मध्य प्रदेश में आनलाइन गेम कंपनियों को कानून के दायरे में लाया जाएगा। यह बात प्रदेश के गृह मंत्री डा. नरोत्तम मिश्रा ने छतरपुर में आनलाइन गेम 'फ्री फायर' के कारण बच्चे की जान जाने के मामले में अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कही। उन्होंने गेम कंपनियों के खिलाफ सख्ती बरतने की बात भी कही। मंत्री मिश्रा ने सोमवार को मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि छतरपुर में ऑनलाइन गेम "फ्री फायर" के कारण बच्चे की जान जाने की घटना दुखद है, पुलिस ने एफआईआर दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। ऐसे गेम बनाने वाली कंपनियों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई के लिए विधि विभाग के अफसरों से राय मशविरा कर रहा हूं। जल्द इन्हें कानून के दायरे में लाकर कार्रवाई करेंगे। गृहमंत्री मिश्रा ने कहा कि साइबर क्राइम को लेकर मध्य प्रदेश पुलिस पूरी तरह चौकस है। उसने इस तरह के अपराध में लिप्त कई गिरोहों का खुलासा कर उन्हें सलाखों के पीछे पहुंचाया है। उन्होंने कहा कि हमारी प्राथमिकता साइबर क्राइम को ध्वस्त करने की है। इसे अंजाम देने वाले तत्वों को किसी भी सूरत में बख्शा नहीं जाएगा। कांग्रेस पर साधा निशाना पीसीसी पूर्व अध्यक्ष अरुण यादव के मैं सिंधिया नही हूँ वाले ट्वीट पर गृहमंत्री मिश्रा ने कहा कि अरुण यादव जिस वर्ग से है उसका इतिहास संघर्ष का रहा है। कांग्रेस की मानसिकता ओबीसी समाज के विरोध की रही है। कांग्रेस में अरुण यादव और उनके पिताजी के साथ जिस तरीके का व्यवहार हुआ उससे ओबीसी के प्रति कांग्रेस की सोच उजागर होती है। वर्षों तक पीसीसी चीफ रहे अरुण यादव को अब लोकसभा उपचुनाव के टिकट के लिए लाइन में लगने को मजबूर किया जा रहा है।  

Dakhal News

Dakhal News 2 August 2021


bhopal, Chief Minister Chouhan ,met Union Sports Minister, Anurag Singh Thakur

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने गुरुवार को नई दिल्ली में केन्द्रीय युवा कार्यक्रम और खेल मंत्री अनुराग सिंह ठाकुर से उनके निवास पर मुलाकात की। इस दौरान उन्होंने ’’खेलो इंडिया यूथ गेम्स 2022’’ का आयोजन मध्यप्रदेश में कराने के लिए सैद्धांतिक सहमति देने पर आभार व्यक्त किया। मुख्यमंत्री चौहान ने केन्द्रीय खेल मंत्री से मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में "खेलो इंडिया यूथ गेम्स 2022’’ के आयोजन की औपचारिक घोषणा करने के साथ ही भोपाल के टी.टी. नगर स्टेडियम में केन्द्रीय सहायता से नवनिर्मित मल्टी परपज हॉल को लोकार्पित करने का भी अनुरोध किया।चौहान ने बताया कि "खेलो इंडिया यूथ गेम्स 2022’’ के आयोजन के लिए चालू वित्त वर्ष में 45 करोड़ रुपये का बजट प्रावधान किया गया है। आयोजन की तैयारी भोपाल में शुरू की जा चुकी है। टीटी नगर स्टेडियम भोपाल में मल्टीपरपज हॉल का निर्माण कार्य लगभग समापन की ओर है। इसमें केन्द्रीय खेल और युवा कार्यक्रम मंत्रालय से सहायता एवं सहयोग की अपेक्षा है। मुख्यमंत्री ने केन्द्रीय मंत्री को खेल से जुड़े केन्द्र सरकार में लम्बित मध्यप्रदेश के 56.93 करोड़ रुपये के प्रस्तावों को शीघ्र पारित करने का अनुरोध किया। इन प्रस्तावों में मुख्यत: इंदौर जिले में बीजल शूटिंग रेंज का निर्माण, शिवपुरी, रतलाम और इंदौर में सिंथेटिक एथलेटिक ट्रैक का निर्माण, दमोह और आगर मालवा में स्पोर्ट्स काम्पलेक्स के निर्माण के प्रस्ताव है। केन्द्रीय मंत्री ठाकुर ने मुख्यमंत्री को ध्यानपूर्वक सुना और मंत्रालय द्वारा हरसंभव सहायता देने का आश्वासन दिया।  

Dakhal News

Dakhal News 29 July 2021


bhopal, Chief Minister Chouhan ,met Union Sports Minister, Anurag Singh Thakur

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने गुरुवार को नई दिल्ली में केन्द्रीय युवा कार्यक्रम और खेल मंत्री अनुराग सिंह ठाकुर से उनके निवास पर मुलाकात की। इस दौरान उन्होंने ’’खेलो इंडिया यूथ गेम्स 2022’’ का आयोजन मध्यप्रदेश में कराने के लिए सैद्धांतिक सहमति देने पर आभार व्यक्त किया। मुख्यमंत्री चौहान ने केन्द्रीय खेल मंत्री से मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में "खेलो इंडिया यूथ गेम्स 2022’’ के आयोजन की औपचारिक घोषणा करने के साथ ही भोपाल के टी.टी. नगर स्टेडियम में केन्द्रीय सहायता से नवनिर्मित मल्टी परपज हॉल को लोकार्पित करने का भी अनुरोध किया।चौहान ने बताया कि "खेलो इंडिया यूथ गेम्स 2022’’ के आयोजन के लिए चालू वित्त वर्ष में 45 करोड़ रुपये का बजट प्रावधान किया गया है। आयोजन की तैयारी भोपाल में शुरू की जा चुकी है। टीटी नगर स्टेडियम भोपाल में मल्टीपरपज हॉल का निर्माण कार्य लगभग समापन की ओर है। इसमें केन्द्रीय खेल और युवा कार्यक्रम मंत्रालय से सहायता एवं सहयोग की अपेक्षा है। मुख्यमंत्री ने केन्द्रीय मंत्री को खेल से जुड़े केन्द्र सरकार में लम्बित मध्यप्रदेश के 56.93 करोड़ रुपये के प्रस्तावों को शीघ्र पारित करने का अनुरोध किया। इन प्रस्तावों में मुख्यत: इंदौर जिले में बीजल शूटिंग रेंज का निर्माण, शिवपुरी, रतलाम और इंदौर में सिंथेटिक एथलेटिक ट्रैक का निर्माण, दमोह और आगर मालवा में स्पोर्ट्स काम्पलेक्स के निर्माण के प्रस्ताव है। केन्द्रीय मंत्री ठाकुर ने मुख्यमंत्री को ध्यानपूर्वक सुना और मंत्रालय द्वारा हरसंभव सहायता देने का आश्वासन दिया।  

Dakhal News

Dakhal News 29 July 2021


bhopal, Madhya Pradesh , save tigers ,also increase it,CM Shivraj

भोपाल। आज विश्व टाइगर दिवस है। इस अवसर पर टाइगर स्टेट का दर्जा प्राप्त मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने प्रदेश की वाइल्डलाइफ टीम को बधाई दी है। उन्होंने कहा है कि टाइगर बचाने के लिए प्रदेश में हमारी वाइल्डलाइफ की टीम द्वारा किए गए कार्य अभिनंदनीय हैं। विशेष प्रयत्नों से बाघों की संख्या मध्यप्रदेश में लगातार बढ़ रही है। हम टाइगर स्टेट के रूप में कटिबद्ध हैं बाघों को बचाने के लिए भी और बढ़ाने के लिए भी। मुख्यमंत्री चौहान ने ट्वीट के माध्यम से कहा है कि -"टाइगर प्रकृति की अनमोल धरोहर के साथ ही हमारा राष्ट्रीय पशु और मध्य प्रदेश की शान भी हैं। सम्पूर्ण विश्व में टाइगर संरक्षण के क्षेत्र में हमारे प्रदेश ने एक विशेष पहचान स्थापित की है। इस विश्व टाइगर दिवस पर हम इनके संरक्षण के लिए प्रयास का संकल्प लें।" उन्होंने कहा कि -"टाइगर स्टेट आफ इंडिया के रूप में मध्यप्रदेश स्थापित है। मैं टाइगर पार्क और वाइल्डलाइफ से सम्बंधित सभी अधिकारियों और कर्मचारियों सहित इस काम में लगी पूरी टीम को बधाई देता हूं। हमें भौतिक प्रगति और पर्यावरण में संतुलन स्थापित करने की आवश्यकता है। टाइगर भी बचें और बाकी वन्यप्राणी भी स्वतंत्र विचरण करें, इससे प्रकृति का चक्र पूरा होता है। मध्यप्रदेश टाइगर्स को बचाने के साथ ही बढ़ाने के लिए भी कटिबद्ध है।"मुख्यमंत्री चौहान ने ट्वीट किया है -"भवानी प्रसाद मिश्र जी ने कहा था, 'सतपुड़ा के घने जंगल, ऊंघते अनमने जंगल।' इन जंगलों में विशेष प्रयत्नों के द्वारा टाइगर्स की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। वाइल्डलाइफ के बिना हमारा जीवन अधूरा है, प्रकृति का चक्र ऐसा है कि टाइगर के बिना सृष्टि नहीं चल सकती है।"उन्होंने कहा कि-"टाइगर के संरक्षण के लिए प्रदेश में टाइगर पार्क और वाइल्डलाइफ की टीम द्वारा जो प्रयत्न किए गए हैं, वो अभिनंदनीय हैं। चाहे पन्ना में फिर से टाइगर बसाने का मामला हो, या सतपुड़ा टाइगर रिज़र्व, जिसकी अपनी एक अलग पहचान है। यह प्राकृतिक सौंदर्य का खजाना है।"मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आज विश्व टाइगर दिवस के अवसर पर 'सतपुड़ा फील्ड गाइड' पुस्तक का विमोचन किया। इस पुस्तक से सफारी गाइड्स और नैचुरलिस्ट्स को वाइल्डलाइफ को समझने में मदद मिलेगी।  

Dakhal News

Dakhal News 29 July 2021


bhopal, results by-elections,held in the coming times , give a message

भोपाल। पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ उपचुनाव की तैयारी को लेकर भोपाल में गुरुवार को एक बड़ी बैठक ली। बैठक को संबोधित करते हुए कमलनाथ ने कहा कि हमारे देश में संविधान में कई प्रकार के चुनाव होते हैं, लोकसभा के, विधानसभा के, नगरीय निकाय के, पंचायत के, वही उपचुनावों का भी अपना एक अलग ही मायना होता है। इससे ना सरकार बनती है, ना बिगड़ती है लेकिन उपचुनावों के परिणाम देश में, प्रदेश में एक संदेश के रूप में होते हैं। कमलनाथ ने इस अवसर पर कहा कि दो साल बाद प्रदेश में विधानसभा के चुनाव हैं, यह चारों उपचुनाव, उन चुनावों के लिए एक संदेश के रूप में होंगे। आज हमने यह महत्वपूर्ण बैठक चारों उपचुनावों की तैयारियों व रणनीति को लेकर बुलाई है। हम इन क्षेत्रों के सभी प्रमुख कांग्रेसजनों, कार्यकर्ताओं से राय मशवरा कर इन चुनावों की रणनीति को और यहां के प्रत्याशियो के नाम को अंतिम रूप देंगे। जो भी जीतने वाला योग्य उम्मीदवार होगा, उसे हम अपना प्रत्याशी बनाएंगे। जो भी प्रत्याशी पार्टी की तरफ़ से तय होगा, सभी कांग्रेस जन पूरी ताकत व एकजुटता से उसे जिताने के लिए मैदान में जुड़ जाये। जिस प्रकार दमोह में हमने उपचुनाव भारी मतों से जीता, वैसे ही हमें यह सभी उपचुनाव भी भारी मतों से जीतना है। दमोह का उपचुनाव हमारे संगठन ने, मंडल-बूथ-सेक्टर के कार्यकर्ताओं ने लड़ा। उस चुनाव की जीत मंडल-सेक्टर के कार्यकर्ताओं की जीत रही संगठन की जीत रही। पूर्व सीएम ने कहा कि मैं शुरू से ही कहता हूं कि हमारा मुकाबला भाजपा से नहीं बल्कि उसके संगठन से है। आज की राजनीति परिवर्तनशील व स्थानीय हो चली है। अब बड़ी-बड़ी आम सभाओं और रैलियों का समय गया, अब तो बूथ पर व जनता से सीधे जुड़ाव का समय है। जिसका जनता से सीधा जुड़ाव होगा, उसकी जीत सुनिश्चित है। हमें क्षमतावान लोगों की पहचान करना होगी, इन क्षेत्रों में मंडल-सेक्टर की इकाइयों में सभी योग्य, निष्ठावान लोगों का चयन हो, इस बात का आप सब लोग विशेष रुप से ध्यान रखें। हमें तेरा-मेरा नहीं देखते हुए सभी को साथ लेकर चलना है। केन्द्र- प्रदेश सरकार पर साधा निशाना बैठक को संबोधित करते हुए कमलनाथ ने केन्द्र और प्रदेश सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि आज देश में मोदी सरकार, प्रदेश में शिवराज सरकार किस प्रकार से लोगों का दमन कर रही है। उनकी विफलताओं को हमें जनता के बीच में लेकर जाना होगा। किस प्रकार तीन काले कानूनों से किसानों को बर्बाद करने का काम किया जा रहा है, पेगासस जासूसी के माध्यम से लोगों की निजता हनन करने का काम किया जा रहा है। हम सरकार से इस पर चर्चा व जांच की मांग कर रहे लेकिन सरकार इससे पीछे भाग रही है। आज महंगाई, बेरोजगारी, अर्थव्यवस्था, किसानों का शोषण जैसे प्रमुख मुद्दे हैं, हमें इन मुद्दों को लेकर जनता के बीच में जाना होगा। उन्होंने कहा कि जिस प्रकार हमने एकजुटता से लडक़र दमोह सीट जीती है, वैसे ही हमें यह चारों सीटें भी हर हाल में जितना है। इस महत्वपूर्ण बैठक में पूर्व प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सुरेश पचौरी, अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के सचिव सुधांशु त्रिपाठी, सी पी मित्तल, कुलदीप इंदौरा, संजय कपूर, पूर्व प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कांतिलाल भूरिया सहित कांग्रेस संगठन के प्रमुख पदाधिकारी गण, इन क्षेत्रों के प्रमुख नेता व कार्यकर्ता उपस्थित थे।

Dakhal News

Dakhal News 29 July 2021


bhopal, Chief Minister Chouhan ,planted a plant, Harr in village Dhapada

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने अपने प्रतिदिन पौधरोपण करने के संकल्प के क्रम में बुधवार को अपने होशंगाबाद संभाग के प्रवास के दौरान ग्राम धपाड़ा अंतर्गत बोरी रिसोर्ट परिसर में हर्र का पौधा रोपा। दरअसल, मुख्यमंत्री चौहान प्रतिदिन पौधा रोपण करने की घोषणा के बाद से नियमित रूप से प्रतिदिन पौधा रोपित कर रहे है। इसी अनुक्रम में उन्होंने यह पौधा रोपित किया।हर्र का पेड़ औषधिय रूप से बहुत उपयोगी है। इसके फल, छाल और गोंद को अस्थमा, पथरी, आंखों एवं दिल की बीमारियों में दवाई के रूप में इसका उपयोग किया जाता है। पके हुए फल को वायुनाशी और टॉनिक के रूप में उपयोग के साथ ही मुँह के छाले और पुराने अल्सर खाँसी, अस्थमा और मूत्र संबंधी विकारों में उपयोग किया जाता है।हर्र के उपयोग से त्रिफला बनाया जाता है, जो पेट की बीमारी के लिये उपयोग में लाया जाता है। इसकी जड़ का पेस्ट बनाकर आँखों में लेपन किया जाता है। आदिवासी क्षेत्र में लोग इसे खाँसी में इसके बिना भुने हुए फलों को चबाते है और इसके तने की छाल का रस पेट दर्द ठीक करने के लिए दिया जाता है।  

Dakhal News

Dakhal News 28 July 2021


bhopal,Politics intensifies , poisonous liquor, Diggi demands ,resignation, Excise Minister

भोपाल। मंदसौर जिले के खकराई गांव में जहरीली शराब पीने से मौत हुई मौतों पर सियासत तेज हो गई है। कांग्रेस इस मामले में लगातार आक्रामक बनी हुई है। अब पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजयसिंह ने इस मामले को लेकर आबकारी मंत्री जगदीश देवड़ा से इस्तीफा मांगा है। पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने आबकारी मंत्री जगदीश देवड़ा से इस्तीफे की मांग की है। बुधवार को दिग्विजयसिंह ने ट्वीट कर कहा कि अवैध शराब का धंधा पुलिस और आबकारी विभाग के संरक्षण में चलता है और करोड़ों की रिश्वत प्रति माह वसूली जाती है। क्या आबकारी मंत्री जी को अपने ही निर्वाचन क्षेत्र में धड़ल्ले से चल रहे अवैध शराब के धंधे की जानकारी नहीं थी? क्या यह संभव है? क्या मंत्री जी को इस्तीफा नहीं देना चाहिए? इससे पहले एक और ट्वीट में दिग्विजयसिंह ने कहा कि प्रदेश में अवैध शराब का धंधा बहुत जोरों से चल रहा है। जनवरी 2021 में नूराबाद थाना मुरैना में 26 लोगों की जान गई। अब स्वयं आबकारी मंत्री के विधानसभा क्षेत्र मल्हारगढ़ में 11 लोगों की मौत का समाचार है। दिग्विजय से पहले पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने मामले में सरकार को घरते हुए जहरीली शराब पीने से मौतों के आंकड़े बढ़ने और आंकड़ों को छिपाने के आरोप लगाए थे।

Dakhal News

Dakhal News 28 July 2021


bhopal,Liquor mafia spirited,MP, government should investigate SIT

भोपाल। मध्य प्रदेश के मंदसौर जिले में जहरीली शराब मामले में मौत पर राजनीति तेज हो गई है। मप्र के पूर्व सीएम और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने मामले पर सरकार पर घेराव करते हुए एसआईटी का गठन करने और इन मौतों की निष्पक्ष जाँच करने की मांग की है। कमलनाथ ने ट्वीट कर कहा शिवराज सरकार में प्रदेश में अवैध शराब बिक्री का जाल पूरे प्रदेश में फैलता जा रहा है। शराब माफिय़ाओ के हौसले बुलंद है। पूर्व में प्रदेश के उज्जैन, मुरैना, ग्वालियर, भिंड में हम ज़हरीली शराब से मौतों की घटनाएँ देख चुके है, अब मंदसौर में आबकारी मंत्री के क्षेत्र की घटना सामने है? प्रदेश के इंदौर, सनावद, खंडवा में भी कुछ लोगों की संदिग्ध मौतों की जानकारी सामने आयी है, सरकार इसको लेकर भी तत्काल एसआईटी का गठन करें, इन मौतों की भी निष्पक्ष जाँच हो। कमलनाथ ने कहा कि अब समय आ गया है कि शिवराज सरकार माफियाओं के खिलाफ़ अपने जुमले गाढ़ दूँगा, टांग दूँगा, लटका दूँगा पर कठोर तरीक़े से अमल करे। जिस तरह माफिय़ाओं को हमारी 15 माह की सरकार ने प्रदेश भर में नेस्तनाबूद किया था, वैसी ही कठोर कार्यवाही वर्तमान में भी हो।

Dakhal News

Dakhal News 28 July 2021


bhopal,Liquor mafia spirited,MP, government should investigate SIT

भोपाल। मध्य प्रदेश के मंदसौर जिले में जहरीली शराब मामले में मौत पर राजनीति तेज हो गई है। मप्र के पूर्व सीएम और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने मामले पर सरकार पर घेराव करते हुए एसआईटी का गठन करने और इन मौतों की निष्पक्ष जाँच करने की मांग की है। कमलनाथ ने ट्वीट कर कहा शिवराज सरकार में प्रदेश में अवैध शराब बिक्री का जाल पूरे प्रदेश में फैलता जा रहा है। शराब माफिय़ाओ के हौसले बुलंद है। पूर्व में प्रदेश के उज्जैन, मुरैना, ग्वालियर, भिंड में हम ज़हरीली शराब से मौतों की घटनाएँ देख चुके है, अब मंदसौर में आबकारी मंत्री के क्षेत्र की घटना सामने है? प्रदेश के इंदौर, सनावद, खंडवा में भी कुछ लोगों की संदिग्ध मौतों की जानकारी सामने आयी है, सरकार इसको लेकर भी तत्काल एसआईटी का गठन करें, इन मौतों की भी निष्पक्ष जाँच हो। कमलनाथ ने कहा कि अब समय आ गया है कि शिवराज सरकार माफियाओं के खिलाफ़ अपने जुमले गाढ़ दूँगा, टांग दूँगा, लटका दूँगा पर कठोर तरीक़े से अमल करे। जिस तरह माफिय़ाओं को हमारी 15 माह की सरकार ने प्रदेश भर में नेस्तनाबूद किया था, वैसी ही कठोर कार्यवाही वर्तमान में भी हो।

Dakhal News

Dakhal News 28 July 2021


bhopal, Schools open ,after one half year ,MP, classes of 11-12th

भोपाल। मध्यप्रदेश में कोरोना का कहर थमने के बाद सोमवार से स्कूल खोल दिये गए हैं। कोरोना प्रोटोकॉल को ध्यान में रखकर अनेक विद्यालयों में ग्यारहवीं और बारहवीं की कक्षाएं आज से प्रारंभ हुईं। हालांकि अभिभावकों की लिखित अनुमति के बाद ही बच्चों को स्कूल में बुलाया जा रहा है। करीब डेढ़ साल बाद स्कूलों को खोला गया है। सोमवार को राजधानी भोपाल समेत प्रदेशभर के अधिकांश स्कूलों में कक्षा 11वीं और 12वीं के छात्र स्कूल पहुंचे। स्कूलों में बच्चों की उपस्थिति कम रही लेकिन स्कूलों में बच्चों की उपस्थिति से रौनक देखने को मिली। उल्लेखनीय है कि कोरोना महामारी के दौर में करीब डेढ़ साल से स्कूल बंद हैं। कोरोना महामारी का सबसे ज्यादा असर छात्रों के शैक्षणिक सत्र पर पड़ा है। लंबे समय से छात्रों के स्कूल बंद हैं और पढ़ाई ऑनलाइन माध्यम से की जा रही है। इस साल की परीक्षाओं को भी कोरोना संकट को देखते हुए टालना पड़ा था। लंबे इंतजार के बाद भी जब कोरोना की स्थिति में सुधार होने पर राज्य के स्कूल शिक्षा विभाग ने तीन दिन पहले राज्य के सभी सरकारी और निजी विद्यालयों में 26 जुलाई से कोरोना संबंधी सभी प्रोटोकॉल का पालन करते हुए 11वीं और 12वीं की कक्षाएं प्रारंभ करने के निर्देश दिए थे। आदेश के अनुसार सप्ताह में दो दिन 11वीं और 12वीं की कक्षाएं लगाने के लिए कहा गया है। बारहवीं के लिए सोमवार और गुरुवार के दिन और ग्यारहवीं के लिए मंगलवार एवं शुक्रवार के दिन निर्धारित किए गए हैं। विद्यालय में विद्यार्थियों के लिए दूर दूर बैठाने के अलावा अन्य उपाय अपनाने के लिए भी कहा गया है। इसके अलावा अभिभावकों से बच्चों के संबंध में लिखित में अनुमति लेना भी आवश्यक किया गया है। इसके अलावा आगामी 05 अगस्त से नवीं और दसवीं की कक्षाएं प्रारंभ करने की योजना है।भोपाल और इंदौर समेत कई शहरों में स्कूलों के खोलने की अनुमति मिलने के बाद सोमवार से 11वीं और 12वीं कक्षा के छात्रों के लिए स्कूल खोले गए हैं। इस दौरान बच्चे स्कूल भी पहुंचे। कई जगह उपस्थित ठीक-ठाक रही तो कई जगह नहीं के बराबर छात्र स्कूल पहुंचे, जबकि कई स्कूल बंद ही रहे। बंद स्कूलों में छात्रों की ऑनलाइन क्लासेस जारी रही। पहले दिन स्कूलों में गेट पर ही छात्रों का तापमान जांचा गया और उसके बाद ही उन्हें अंदर प्रवेश दिया गया।पहले दिन स्कूल में शिक्षकों ने छात्रों का कोरोना काल को देखते हुए अनोखे तरीके से स्वागत किया। पारंपरिक मंत्रोच्चार के साथ ही शिक्षकों ने पहले दिन आने वाले छात्रों को मास्क और सैनिटाइजर बतौर उपहार दिया गया और उन पर फूल भी बरसाए गए। मॉडल स्कूल, भोपाल की प्राचार्य रेखा शर्मा ने बताया कि कोरोना गाइडलाइंस के मुताबिक फिलहाल स्कूलों में प्रार्थना सभा नहीं की जा रही है। इसलिए छात्रों को सीधे कक्षा में भेजा गया। कक्षाओं में छात्रों को दो गज की दूरी के साथ बैठाया गया। शिक्षकों ने उन्हें पढ़ाना भी शुरू कर दिया है।  

Dakhal News

Dakhal News 26 July 2021


bhopal, Schools open ,after one half year ,MP, classes of 11-12th

भोपाल। मध्यप्रदेश में कोरोना का कहर थमने के बाद सोमवार से स्कूल खोल दिये गए हैं। कोरोना प्रोटोकॉल को ध्यान में रखकर अनेक विद्यालयों में ग्यारहवीं और बारहवीं की कक्षाएं आज से प्रारंभ हुईं। हालांकि अभिभावकों की लिखित अनुमति के बाद ही बच्चों को स्कूल में बुलाया जा रहा है। करीब डेढ़ साल बाद स्कूलों को खोला गया है। सोमवार को राजधानी भोपाल समेत प्रदेशभर के अधिकांश स्कूलों में कक्षा 11वीं और 12वीं के छात्र स्कूल पहुंचे। स्कूलों में बच्चों की उपस्थिति कम रही लेकिन स्कूलों में बच्चों की उपस्थिति से रौनक देखने को मिली। उल्लेखनीय है कि कोरोना महामारी के दौर में करीब डेढ़ साल से स्कूल बंद हैं। कोरोना महामारी का सबसे ज्यादा असर छात्रों के शैक्षणिक सत्र पर पड़ा है। लंबे समय से छात्रों के स्कूल बंद हैं और पढ़ाई ऑनलाइन माध्यम से की जा रही है। इस साल की परीक्षाओं को भी कोरोना संकट को देखते हुए टालना पड़ा था। लंबे इंतजार के बाद भी जब कोरोना की स्थिति में सुधार होने पर राज्य के स्कूल शिक्षा विभाग ने तीन दिन पहले राज्य के सभी सरकारी और निजी विद्यालयों में 26 जुलाई से कोरोना संबंधी सभी प्रोटोकॉल का पालन करते हुए 11वीं और 12वीं की कक्षाएं प्रारंभ करने के निर्देश दिए थे। आदेश के अनुसार सप्ताह में दो दिन 11वीं और 12वीं की कक्षाएं लगाने के लिए कहा गया है। बारहवीं के लिए सोमवार और गुरुवार के दिन और ग्यारहवीं के लिए मंगलवार एवं शुक्रवार के दिन निर्धारित किए गए हैं। विद्यालय में विद्यार्थियों के लिए दूर दूर बैठाने के अलावा अन्य उपाय अपनाने के लिए भी कहा गया है। इसके अलावा अभिभावकों से बच्चों के संबंध में लिखित में अनुमति लेना भी आवश्यक किया गया है। इसके अलावा आगामी 05 अगस्त से नवीं और दसवीं की कक्षाएं प्रारंभ करने की योजना है।भोपाल और इंदौर समेत कई शहरों में स्कूलों के खोलने की अनुमति मिलने के बाद सोमवार से 11वीं और 12वीं कक्षा के छात्रों के लिए स्कूल खोले गए हैं। इस दौरान बच्चे स्कूल भी पहुंचे। कई जगह उपस्थित ठीक-ठाक रही तो कई जगह नहीं के बराबर छात्र स्कूल पहुंचे, जबकि कई स्कूल बंद ही रहे। बंद स्कूलों में छात्रों की ऑनलाइन क्लासेस जारी रही। पहले दिन स्कूलों में गेट पर ही छात्रों का तापमान जांचा गया और उसके बाद ही उन्हें अंदर प्रवेश दिया गया।पहले दिन स्कूल में शिक्षकों ने छात्रों का कोरोना काल को देखते हुए अनोखे तरीके से स्वागत किया। पारंपरिक मंत्रोच्चार के साथ ही शिक्षकों ने पहले दिन आने वाले छात्रों को मास्क और सैनिटाइजर बतौर उपहार दिया गया और उन पर फूल भी बरसाए गए। मॉडल स्कूल, भोपाल की प्राचार्य रेखा शर्मा ने बताया कि कोरोना गाइडलाइंस के मुताबिक फिलहाल स्कूलों में प्रार्थना सभा नहीं की जा रही है। इसलिए छात्रों को सीधे कक्षा में भेजा गया। कक्षाओं में छात्रों को दो गज की दूरी के साथ बैठाया गया। शिक्षकों ने उन्हें पढ़ाना भी शुरू कर दिया है।  

Dakhal News

Dakhal News 26 July 2021


ujjain, Former Union Minister ,Uma Bharti visited, Baba Mahakal

उज्जैन। मध्य प्रदेश की पूर्व सीएम और पूर्व केन्द्रीय मंत्री उमा भारती ने पहले सावन सोमवार पर उज्जैन में बाबा महाकाल मंदिर में दर्शन किये। प्रत्येक वर्ष की तरह इस बार भी नियम अनुसार पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती बाबा का जलाभिषेक करने पहुंचीं। उमा भारती सुबह 9 बजे बाबा महाकाल के मंदिर पहुंचीं। उन्होंने करीब 30 मिनट गर्भगृह में बिताए। दर्शन करने के बाद मीडिया से चर्चा करते हुए उमा भारती ने कहा कि मैं बाबा महाकाल की कृपा से ही उनके दर्शन करने आती हूं। मैं हमेशा बाबा से यही मांगती हूं कि मेरा जीवन व्यर्थ ना जाने देना। दूसरा कोरोना व अन्य सभी विप्पतियों से आतंकवाद से देश वासियों को छुटकारा मिले। इस अवसर पर उमा भारती ने मंदिर में आने वाले श्राद्धलुओं से खास अपील करते हुए कहा कि खुद नियमों को समझें। इतने सारे लोगों में एक-एक व्यक्ति को नहीं रोका जा सकता, इसलिए नियमों का उल्लंघन ना करें जितना हो उतना एहतियात बरतें। उमा ने कहा मेरे भाई सीएम शिवराज की अपील को मानें। जो लोग मंदिर नहीं पहुंच पा रहे हैं वो भी चिंता ना करे बाबा की कृपा सब पर बनी हुई है।

Dakhal News

Dakhal News 26 July 2021


bhopal, Kamal Nath ,raised questions,supply of bad rice

भोपाल। प्रदेश में गरीबों के लिए खराब चावल की सप्लाई का मामला 10 महीने बाद फिर सामने आया है। जबलपुर से 2600 टन चावल पीडीएस के जरिए रतलाम भेजा गया है, जिसमें इल्ली, फंगस, घुन लगा हुआ है। जानकारों का कहना है कि ऐसा चावल तो मुर्गे के दाने के ही उपयोग का बचा होगा या फिर इसे जानवर खाएंगे। खराब चावल सप्लाई का मामला सामने आने के बाद राजनीति शुरू हो गई है। कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष और पूर्व सीएम कमलनाथ ने इस पूरे मामले पर सरकार पर निशाना साधा है। कमलनाथ ने सरकार पर हमला करते हुए कहा कि प्रदेश में पूर्व में भी सितंबर-2020 में गऱीबों को जानवरो के खाने योग्य चावल के वितरण का मामला केंद्रीय दल ने पकड़ा था और उस समय जिम्मेदारों ने तमाम जाँच व बड़ी-बड़ी घोषणाएँ व दावे किये थे? अब फिर प्रदेश में गरीबों को इल्ली- फंगस -घुन लगा चावल वितरण का मामला सामने आया है? आखिर शिवराज सरकार गरीबों को क्यों बार-बार मजाक उड़ा रही है? क्यों जानवरो के खाने लायक़ चावल को गऱीबों को वितरण के लिये भेजा जा रहा है? कमलनाथ ने मामले को गंभीर बताते हुए इसकी उच्च स्तरीय जांच की मांग की है। उन्होंने कहा कि यह बेहद गंभीर मामला है, इसकी उच्च स्तरीय जाँच हो, यदि पूर्व में ही सरकार ने ठोस कदम उठा लिये होते तो इस पर रोक लग सकती थी लेकिन ऐसा लग रहा है कि ख़ुद शिवराज सरकार व जिम्मेदार इन कामों को खुला संरक्षण दे रहे है ?

Dakhal News

Dakhal News 26 July 2021


bhopal,BSP MLA Rambai

भोपाल। हटा के कांग्रेसी नेता देवेंद्र चौरसिया हत्याकांड के मुख्य आरोपित पथरिया विधानसभा सीट से बसपा विधायक रामबाई के पति गोविन्द सिंह को तगड़ा झटका लगा है। सुप्रीम कोर्ट द्वारा उनकी जमानत याचिका रद्द कर दी गई है। दरअसल, मृतक देवेंद्र चौरसिया के पुत्र सोमेश चौरसिया ने सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दाखिल की थी। जिसमें मांग की थी कि विधायक पति गोविंद सिंह पुराने जितने भी मामलों में जमानत पर चल रहा है, उसकी जमानत याचिका खारिज की जाए। पीड़ित के अधिवक्ता वरुण ठाकुर ने द्वारा दायर इस याचिका पर गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट ने अपना फैसला सुनाया। शीर्ष अदालत ने गोविन्द सिंह की जमानत याचिका रद्द कर दी। इतना ही नहीं सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले पर सुनवाई करते हुए तल्ख टिप्पणी भी करते हुए कहा कि देश में ताकतवर लोगों के लिए अलग कानून नहीं होगा। साथ ही हाईकोर्ट से जमानत देने की भी निंदा करते हुए कहा कि निचली अदालतों के जजों को सुरक्षा देने की आवश्यकता है। गौरतलब है कि हटा के कांग्रेस नेता देवेन्द्र चौरसिया की हत्या के आरोप में बसपा विधायक रामबाई के पति गोविन्द सिंह लम्बे समय तक फरार रहे। कई दिनों ढूंढ़ने के बाद भी पुलिस गोविन्द सिंह को गिरफ्तार नहीं कर पाई। इसके बाद पुलिस ने उनकी गिरफ्तारी के लिए 50 हजार रुपये का इनाम घोषित कर दिया। इसके बाद गोविन्द सिंह ने पुलिस के सामने सरेंडर कर दिया था। इसके बाद से ही गोविन्द सिंह जेल में बंद हैं। गोविन्द सिंह ने अपनी जमानत की याचिका सुप्रीम कोर्ट में दाखिल की थी। इस मामले पर सुनवाई करते हुए कोर्ट ने जमानत देने से साफ इंकार कर दिया। शीर्ष अदालत ने यह माना कि आरोपित को न्याय प्रशासन के लोग ही बचाने की कोशिश कर रहे हैं। जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ और एमआर शाह की युगलपीठ ने आरोपित गोविन्द सिंह की जमानत याचिका खारिज करते हुए कहा कि हाईकोर्ट ने कानूनी सिद्धांतों को गलत तरीके से लागू किया है।  

Dakhal News

Dakhal News 22 July 2021


bhopal,Kamal Nath , raid on Dainik Bhaskar group,attempt to suppress, fourth pillar

भोपाल। मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में देश के एक बड़े अखबार दैनिक भास्कर समूह के आधा दर्जन ठिकानों पर आयकर विभाग की छापेमारी को पूर्व सीएम कमलनाथ और दिग्विजय सिंह ने चौथे स्तंभ को दबाने का प्रयास बताया है। आयकर विभाग की इन्वेस्टिगेशन विंग गुरुवार को तड़के से दैनिक भास्कर समूह के भोपाल, जयपुर, नोएडा, अहमदाबाद और मुंबई आदि शहरों में स्थित ठिकानों पर छापामार कार्रवाई कर रही है। दैनिक भास्कर के मालिकों के घरों और संस्थानों पर एक साथ आयकर विभाग की कार्रवाई फिलहाल जारी है। पूर्व सीएम और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने ट्वीट कर कहा कि ‘मोदी सरकार में प्रजातंत्र के चौथे स्तंभ को दबाने और सच रोकने का काम शुरू से ही किया जा रहा है। अभी पेगासस जासूसी मामले में भी कई मीडिया संस्थान व उससे जुड़े लोग बड़ी संख्या में निशाने पर रहे हैं। अब सरकार की निरंतर पोल खोल रहे दैनिक भास्कर मीडिया समूह को दबाने का काम शुरू हो गया है। अपने विरोधियों को दबाने के लिये, सच को सामने आने से रोकने के लिये ईडी, आईटी व अन्य एजेंसियों का दुरुपयोग यह सरकार शुरू से ही करती रही है जो आज भी जारी है लेकिन सत्य परेशान हो सकता है लेकिन पराजित नहीं। पूर्व सीएम और राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह ने ट्वीट कर इस कार्रवाई को पत्रकारिता पर प्रहार बताया है। उन्होंने विश्वास जताया है कि दैनिक भास्कर के मालिक इस कार्रवाई से नहीं डरेंगे। राज्य सभा सांसद एवं सु्प्रीम कोर्ट के एडवोकेट विवेक तन्खा ने कहा कि इनकम टैक्स की कार्यवाही प्रेस की आज़ादी पर सीधा हमला है। प्रजातंत्र की मूल भावना के विपरीत इस कार्यवाही का संसद में और पब्लिक में पूरी ताकत से विरोध किया जायेगा।  

Dakhal News

Dakhal News 22 July 2021


bhopal,Kamal Nath , raid on Dainik Bhaskar group,attempt to suppress, fourth pillar

भोपाल। मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में देश के एक बड़े अखबार दैनिक भास्कर समूह के आधा दर्जन ठिकानों पर आयकर विभाग की छापेमारी को पूर्व सीएम कमलनाथ और दिग्विजय सिंह ने चौथे स्तंभ को दबाने का प्रयास बताया है। आयकर विभाग की इन्वेस्टिगेशन विंग गुरुवार को तड़के से दैनिक भास्कर समूह के भोपाल, जयपुर, नोएडा, अहमदाबाद और मुंबई आदि शहरों में स्थित ठिकानों पर छापामार कार्रवाई कर रही है। दैनिक भास्कर के मालिकों के घरों और संस्थानों पर एक साथ आयकर विभाग की कार्रवाई फिलहाल जारी है। पूर्व सीएम और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने ट्वीट कर कहा कि ‘मोदी सरकार में प्रजातंत्र के चौथे स्तंभ को दबाने और सच रोकने का काम शुरू से ही किया जा रहा है। अभी पेगासस जासूसी मामले में भी कई मीडिया संस्थान व उससे जुड़े लोग बड़ी संख्या में निशाने पर रहे हैं। अब सरकार की निरंतर पोल खोल रहे दैनिक भास्कर मीडिया समूह को दबाने का काम शुरू हो गया है। अपने विरोधियों को दबाने के लिये, सच को सामने आने से रोकने के लिये ईडी, आईटी व अन्य एजेंसियों का दुरुपयोग यह सरकार शुरू से ही करती रही है जो आज भी जारी है लेकिन सत्य परेशान हो सकता है लेकिन पराजित नहीं। पूर्व सीएम और राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह ने ट्वीट कर इस कार्रवाई को पत्रकारिता पर प्रहार बताया है। उन्होंने विश्वास जताया है कि दैनिक भास्कर के मालिक इस कार्रवाई से नहीं डरेंगे। राज्य सभा सांसद एवं सु्प्रीम कोर्ट के एडवोकेट विवेक तन्खा ने कहा कि इनकम टैक्स की कार्यवाही प्रेस की आज़ादी पर सीधा हमला है। प्रजातंत्र की मूल भावना के विपरीत इस कार्यवाही का संसद में और पब्लिक में पूरी ताकत से विरोध किया जायेगा।  

Dakhal News

Dakhal News 22 July 2021


bhopal,Kamal Nath , raid on Dainik Bhaskar group,attempt to suppress, fourth pillar

भोपाल। मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में देश के एक बड़े अखबार दैनिक भास्कर समूह के आधा दर्जन ठिकानों पर आयकर विभाग की छापेमारी को पूर्व सीएम कमलनाथ और दिग्विजय सिंह ने चौथे स्तंभ को दबाने का प्रयास बताया है। आयकर विभाग की इन्वेस्टिगेशन विंग गुरुवार को तड़के से दैनिक भास्कर समूह के भोपाल, जयपुर, नोएडा, अहमदाबाद और मुंबई आदि शहरों में स्थित ठिकानों पर छापामार कार्रवाई कर रही है। दैनिक भास्कर के मालिकों के घरों और संस्थानों पर एक साथ आयकर विभाग की कार्रवाई फिलहाल जारी है। पूर्व सीएम और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने ट्वीट कर कहा कि ‘मोदी सरकार में प्रजातंत्र के चौथे स्तंभ को दबाने और सच रोकने का काम शुरू से ही किया जा रहा है। अभी पेगासस जासूसी मामले में भी कई मीडिया संस्थान व उससे जुड़े लोग बड़ी संख्या में निशाने पर रहे हैं। अब सरकार की निरंतर पोल खोल रहे दैनिक भास्कर मीडिया समूह को दबाने का काम शुरू हो गया है। अपने विरोधियों को दबाने के लिये, सच को सामने आने से रोकने के लिये ईडी, आईटी व अन्य एजेंसियों का दुरुपयोग यह सरकार शुरू से ही करती रही है जो आज भी जारी है लेकिन सत्य परेशान हो सकता है लेकिन पराजित नहीं। पूर्व सीएम और राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह ने ट्वीट कर इस कार्रवाई को पत्रकारिता पर प्रहार बताया है। उन्होंने विश्वास जताया है कि दैनिक भास्कर के मालिक इस कार्रवाई से नहीं डरेंगे। राज्य सभा सांसद एवं सु्प्रीम कोर्ट के एडवोकेट विवेक तन्खा ने कहा कि इनकम टैक्स की कार्यवाही प्रेस की आज़ादी पर सीधा हमला है। प्रजातंत्र की मूल भावना के विपरीत इस कार्यवाही का संसद में और पब्लिक में पूरी ताकत से विरोध किया जायेगा।  

Dakhal News

Dakhal News 22 July 2021


bhopal, Kamal Nath targeted ,Center in Pegasus case, sought a direct answer

भोपाल। पेगासस जासूसी मामले को लेकर कांग्रेस पार्टी आक्रामक हो गई है और केन्द्र सरकार को घेरने का कोई मौका नहीं छोड़ रही है। इसी क्रम में मप्र के पूर्व मुख्यमंत्री और पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने भी केन्द्र सरकार पर निशाना साधते हुए पेगासस मामले में सीधा जवाब मांगा है। उन्होंने कहा है कि केंद्र सरकार को स्पष्ट करना चाहिए कि उसने इजराइली कंपनी से जासूसी के कार्य में उपयोग होने वाला 'पेगासस' का लायसेंस खरीदा है या नहीं। पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने बुधवार को भोपाल स्थित प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में हुई पत्रकारवार्ता में केन्द्र सरकार पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि पेगासस मामले में केन्द्र की नरेन्द्र मोदी सरकार सीधा जवाब दे। साथ ही उसको यह स्पष्ट करना चाहिए कि उसने पेगासस लायसेंस राष्ट्रीय सुरक्षा के मद्देनजर खरीदा है या फिर अपनी सरकार के लिए। उन्होंने दावा करते हुए कहा कि केंद्र सरकार ने पेगासस का लायसेंस खरीदा है और इसका उपयोग प्रमुख लोगों की जासूसी कराने के लिए हुआ है।कमलनाथ ने कहा कि पेगासस मामले में केंद्र सरकार और उससे जुड़े जिम्मेदार लोग गोलमोल जवाब दे रहे हैं, जबकि मामले में उन्हें जांच की पहल करना चाहिए। उन्होंने संकेत दिए कि आने वाले समय में इस मामले में और बड़े-बड़े खुलासे होंगे।पूर्व सीएम ने बढ़ती महंगाई को लेकर भी केन्द्र सरकार पर निशाना साधा। उन्होंने महंगाई के लिए केन्द्र की नीतियों को जिम्मेदार ठहराते हुए कहा है कि उन्होंने कहा कि महंगायी के कारण मध्यम वर्गीय गरीब हो रहा है और गरीब की स्थिति और दयनीय होती जा रही है। आर्थिक गतिविधियां ठप होने से नौजवानों के समक्ष रोजगार के संकट आ गए हैं। वास्तव में रोजगार के अवसर मुहैया कराने के लिए आर्थिक गतिविधियों को बढ़ाने की आवश्यकता है।

Dakhal News

Dakhal News 21 July 2021


bhopal, Kamal Nath targeted ,Center in Pegasus case, sought a direct answer

भोपाल। पेगासस जासूसी मामले को लेकर कांग्रेस पार्टी आक्रामक हो गई है और केन्द्र सरकार को घेरने का कोई मौका नहीं छोड़ रही है। इसी क्रम में मप्र के पूर्व मुख्यमंत्री और पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने भी केन्द्र सरकार पर निशाना साधते हुए पेगासस मामले में सीधा जवाब मांगा है। उन्होंने कहा है कि केंद्र सरकार को स्पष्ट करना चाहिए कि उसने इजराइली कंपनी से जासूसी के कार्य में उपयोग होने वाला 'पेगासस' का लायसेंस खरीदा है या नहीं। पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने बुधवार को भोपाल स्थित प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में हुई पत्रकारवार्ता में केन्द्र सरकार पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि पेगासस मामले में केन्द्र की नरेन्द्र मोदी सरकार सीधा जवाब दे। साथ ही उसको यह स्पष्ट करना चाहिए कि उसने पेगासस लायसेंस राष्ट्रीय सुरक्षा के मद्देनजर खरीदा है या फिर अपनी सरकार के लिए। उन्होंने दावा करते हुए कहा कि केंद्र सरकार ने पेगासस का लायसेंस खरीदा है और इसका उपयोग प्रमुख लोगों की जासूसी कराने के लिए हुआ है।कमलनाथ ने कहा कि पेगासस मामले में केंद्र सरकार और उससे जुड़े जिम्मेदार लोग गोलमोल जवाब दे रहे हैं, जबकि मामले में उन्हें जांच की पहल करना चाहिए। उन्होंने संकेत दिए कि आने वाले समय में इस मामले में और बड़े-बड़े खुलासे होंगे।पूर्व सीएम ने बढ़ती महंगाई को लेकर भी केन्द्र सरकार पर निशाना साधा। उन्होंने महंगाई के लिए केन्द्र की नीतियों को जिम्मेदार ठहराते हुए कहा है कि उन्होंने कहा कि महंगायी के कारण मध्यम वर्गीय गरीब हो रहा है और गरीब की स्थिति और दयनीय होती जा रही है। आर्थिक गतिविधियां ठप होने से नौजवानों के समक्ष रोजगार के संकट आ गए हैं। वास्तव में रोजगार के अवसर मुहैया कराने के लिए आर्थिक गतिविधियों को बढ़ाने की आवश्यकता है।

Dakhal News

Dakhal News 21 July 2021


bhopal, Chairman and members , Human Rights Commission, met the Governor

  भोपाल। प्रदेश के नए राज्यपाल मंगुभाई पटेल से सोमवार को मध्यप्रदेश मानव अधिकार आयोग के अध्यक्ष न्यायमूर्ति नरेन्द्र कुमार जैन तथा सदस्य मनोहर ममतानी एवं सरबजीत सिंह ने सौजन्य भेंट की। आयोग अध्यक्ष एवं सदस्य सोमवार सुबह राजभवन पहुंचे थे। मध्यप्रदेश मानव अधिकार आयोग के अध्यक्ष, सदस्य एवं अन्य पदाधिकारी सोमवार को राज्यपाल से मिले। पदभार ग्रहण करने के बाद राज्यपाल मंगुभाई पटेल से आयोग के सभी पदाधिकारियों की यह पहली भेंट थी। इस अवसर पर आयोग के अध्यक्ष न्यायमूर्ति जैन ने राज्यपाल पटेल को आयोग के समस्त कार्यकलापों एवं अन्य गतिविधियों से अवगत कराया।  

Dakhal News

Dakhal News 19 July 2021


bhopal, Kamal Nath, took a jibe ,release of Laxman Singh

भोपाल। मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने सोमवार को चाचौड़ा से कांग्रेस विधायक और पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह के भाई लक्ष्मण सिंह की पर्यावरण पर लिखी किताब का विमोचन किया। कमलनाथ के निवास पर हुए सादे कार्यक्रम में पूर्व मुख्यमंत्री एवं राज्यसभा सासंद दिग्विजय सिंह भी मौजूद रहे। किताब केे विमोचन अवसर पर कमलनाथ ने चुटकी लेते हुए कहा कि यदि यह किताब दिग्विजय सिंह पर लिखी होती तो सबसे ज्यादा बिकती। उन्होंने कहा कि पर्यावरण मेरा पसंदीदा विषय है। मैं खुद पर्यावरण मंत्री रह चुका हूं। इसलिए इसकी अहमियत जानता हूं। मध्य प्रदेश में मुख्यमंत्री रहते अल्प समय में ही पर्यावरण संरक्षण को लेकर योजनाएं बनाई थी। अगली बार सरकार आने पर इन योजनाओं को क्रियान्वित किया जाएगा। बक्सवाहा में जंगल की कटाई पर पूर्व सीएम कमलनाथ ने कहा कि पर्यावरण के नजरिए से यह चिंताजनक है। उन्होंने कहा कि जब मैं मुख्यमंत्री था, तब मैंने यह जानकारी निकाली थी कि प्रदेश में कितनी नदियां और तालाब सूख गए हैं। इन्हें फिर से जीवित करने की जरुरत है। दिग्विजय ने कहा कि अगली बार सरकार आने पर इस पर गंभीरता से काम किया जाएगा।  

Dakhal News

Dakhal News 19 July 2021


bhopal, BJP leaders ,took a jibe , Sidhu

भोपाल। नवजोतसिंह सिद्धू को पंजाब प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष बनाए जाने को लेकर भाजपा नेताओं ने हमला बोलना शुरू कर दिया है। पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय, प्रदेश सह संगठन महामंत्री हितानंद शर्मा एवं कृषि मंत्री कमल पटेल ने भी इसे लेकर सोशल मीडिया के जरिए निशाना साधा है। सिद्धू को प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष बनाए जाने पर भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने राहुल गांधी और कांग्रेस पर तंज कसा है। विजयवर्गीय ने अपने ट्वीट में राहुल गांधी को कोट करते हुए लिखा है- उनका 'पप्पू' नाम देने वाले को पंजाब कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष बनने पर बधाई। यह वही सिद्धू हैं, जिन्होंने कहा था- 'कांग्रेस मुन्नी से भी ज्यादा बदनाम है।' हम क्या कहें ये किस्सा, उनका है ये वे ही जानें। वहीं, नवजोत सिंह सिद्धू को पंजाब कांग्रेस का अध्यक्ष बनाए जाने पर मध्यप्रदेश भाजपा के सह सगंठन महामंत्री हितानंद शर्मा ने भी तंज कसा है। उन्होंने ट्वीट कर लिखा कि पप्पू और गप्पू की अब डबल इंजन की जोड़ी कांग्रेस मुक्त पंजाब का सपना साकार करेगी। ठोको ताली...। हितानंद शर्मा के इस ट्वीट को कृषि मंत्री कमल पटेल ने री-ट्वीट किया है। उन्होंने रिट्वीट करते हुए लिखा है- क्या बात है.... पप्पू और गप्पू के लिए ठोको ताली..।

Dakhal News

Dakhal News 19 July 2021


bhopal, President-Prime Minister, expressed grief ,over Ganjbasoda accident

भोपाल। मप्र के विदिशा जिले में गंजबासौदा थाना क्षेत्र अंतर्गत लाल पठार गांव में हुए हादसे में 11 लोगों की मौत हो गई। इस हादसे पर राष्ट्रपति-प्रधानमंत्री ने शोक व्यक्त किया है। राष्ट्रपति रामनाथ कोविन्द ने ट्वीट करते हुए कहा है कि मध्यप्रदेश के विदिशा में हुए हादसे में अनेक लोगों की मृत्यु के हृदय विदारक समाचार से अत्यंत दुःख हुआ। मैं, दुर्घटना में फंसे लोगों के बचाव के प्रयासों की सफलता की कामना करता हूं और शोक संतप्त परिवारों के प्रति हार्दिक संवेदना व्यक्त करता हूं। वहीं, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने ट्वीट किया है कि मध्य प्रदेश के विदिशा में हुए हादसे से दुखी हूं। शोक संतप्त परिवारों के प्रति मेरी संवेदनाएं। उन्होंने कहा है कि प्रधानमंत्री नेशनल रिलीफ फंड से जान गंवाने वालों के परिजनों को दो-दो लाख रुपये की अनुग्रह राशि दी जाएगी। इधर, मप्र के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने री-ट्वीट करते हुए कहा है कि -राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद जी, आपकी संवेदनाएं पीड़ित परिवारों को संबल और इस असीम दु:ख को सहने का सामर्थ्य प्रदान करेंगी। सम्पूर्ण मध्यप्रदेश शोकाकुल परिवारों के साथ है और इस पीड़ा से उनके शीघ्र उबरने की प्रार्थना करता है। सीएम शिवराज ने प्रधानमंत्री के ट्वीट को री-ट्वीट करते हुए कहा है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी, आपकी इस संवेदनशीलता से नि:संदेह पीड़ित परिवारों को संबल मिलेगा। इस दुर्भाग्यपूर्ण दुर्घटना में हम सब अथक और अविराम प्रयासों के बावजूद कई अमूल्य जिंदगियों को नहीं बचा सके। पीड़ित परिवारों के साथ पूरे प्रदेश के हर नागरिक की संवेदनाएं है।

Dakhal News

Dakhal News 17 July 2021


vidisha, Well of death, 11 bodies recovered , Ganjbasoda accident, rescue ends

विदिशा/भोपाल। विदिशा जिले के गंजबासौदा थाना क्षेत्र के लाल पठार गांव में 10 साल के बच्चे की जान बचाने के चक्कर में 11 लोगों की जान चली गई। गंजबासौदा कुआं हादसे में 24 घंटे से अधिक चले राहत एवं बचाव कार्य में बचाव दल ने सभी 11 शव बरामद कर लिए हैं। एडीजीपी साईं मनोहर ने कुएं से 11 शव निकाले जाने की पुष्टि की है। इसके साथ ही घटनास्थल पर रेस्क्यू आपरेशन समाप्त कर दिया गया है। एडीजीपी के मुताबिक, गुरुवार देर शाम रवि अहिरवार नामक 10 वर्षीय बालक पानी भरने के दौरान कुएं में गिर गया था। जानकारी मिलने के बाद उसे बचाने के लिए कुएं पर ग्रामीणों की भीड़ जमा हो गई। वजन बढ़ने से कुएं का किनारा धंस गया। जिससे 30 ग्रामीण मलबे समेत कुएं में गिर गए। सूचना मिलते ही जिला प्रशासन, पुलिस एवं बचाव दल मौके पर पहुंचे और रेस्क्यू शुरू किया। यह रेस्क्यू शुक्रवार देर रात तक जारी रहा। इस दौरान कुएं से 11 लोगों के शव बरामद हुए। विदिशा कलेक्टर डॉ. पंकज जैन ने बताया कि राहत एवं बचाव कार्य के दौरान शुरुआत में ही 20 लोगों को सुरक्षित निकाल लिया गया था, जबकि शुक्रवार रात करीब 10.30 बजे तक चले रेस्क्यू में 11 लोगों के शव बरामद हुए हैं। इनमें दो शव गुरुवार रात 2 बजे, तीसरा शव रात 3:30 बजे, चौथा शव शुक्रवार सुबह 6 बजे, पांचवां शव दोपहर 3:30 बजे, छठवां शव शाम 7 बजे, आठवां व नौवां शव शाम 7:30 बजे और 10वां शव रात 10 बजे और आखिरी 11वां शव रात करीब सवा 10 बजे कुएं से निकाला गया। इसके बाद रेस्क्यू समाप्त कर दिया गया।मृतकों में संदीप (18) पुत्र अखिलेश खंगार, शुभम (18) पुत्र सुनील बाल्मीकि, सुनील (40) पुत्र सुभान बाल्मीकि, विक्की नाथ (25) पुत्र शिवनाथ, दीनू (26) पुत्र धन सिंह परिहार, नरेश (35) पुत्र रतिराम नाथ, गोविन्द (32) पुत्र करण सिंह कुशवाह, 40 वर्षीय नारायण कुशवाह, पवन (18) पुत्र बालकिशन लोधी और 15 वर्षीय कृष्ण गोपाल (बिट्टू) के अलावा आखिरी शव उस 10 वर्षीय बालक रवि पुत्र उमकार अहिरवार का है, जो पानी भरते समय कुएं में जा गिरा था और उसके कुएं में गिरने की खबर के बाद ग्रामीण घटनास्थल पर एकत्रित हुए थे।इधर, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शुक्रवार देर रात ट्वीट करते हुए कहा है कि गंजबासौदा का 24 घंटे का रेस्क्यू ऑपरेशन समाप्त हो गया है। कुएं से 11 पार्थिव शरीर निकाले गये हैं। यह एक दुर्भाग्यपूर्ण घटना है। दु:ख की इस घड़ी में हम शोकाकुल परिवार के साथ हैं। ईश्वर से दिवंगत आत्माओं की शांति के लिए प्रार्थना करता हूं।मुख्यमंत्री ने कहा कि ग्रामवासी, विश्वास सारंग जी, गोविंद सिंह राजपूत जी, आईजी, कमिश्नर, कलेक्टर, एसपी व पूरी NDRF, SDRF, प्रशासकीय टीम ने अथक परिश्रम किया। हम सब पीड़ित परिवारों के साथ हैं और उनकी हरसंभव सहायता की जायेगी। मैंने मौके पर टीम से वीडियो कॉल से बात की और ऑपरेशन का जायजा लिया। अब 24 घंटे के बाद ऑपरेशन समाप्त किया है लेकिन बैरिकेड लगाकर कोई क्लेम हो, तो और दो दिन हम देखेंगे।  

Dakhal News

Dakhal News 17 July 2021


vidisha, Well of death, 11 bodies recovered , Ganjbasoda accident, rescue ends

विदिशा/भोपाल। विदिशा जिले के गंजबासौदा थाना क्षेत्र के लाल पठार गांव में 10 साल के बच्चे की जान बचाने के चक्कर में 11 लोगों की जान चली गई। गंजबासौदा कुआं हादसे में 24 घंटे से अधिक चले राहत एवं बचाव कार्य में बचाव दल ने सभी 11 शव बरामद कर लिए हैं। एडीजीपी साईं मनोहर ने कुएं से 11 शव निकाले जाने की पुष्टि की है। इसके साथ ही घटनास्थल पर रेस्क्यू आपरेशन समाप्त कर दिया गया है। एडीजीपी के मुताबिक, गुरुवार देर शाम रवि अहिरवार नामक 10 वर्षीय बालक पानी भरने के दौरान कुएं में गिर गया था। जानकारी मिलने के बाद उसे बचाने के लिए कुएं पर ग्रामीणों की भीड़ जमा हो गई। वजन बढ़ने से कुएं का किनारा धंस गया। जिससे 30 ग्रामीण मलबे समेत कुएं में गिर गए। सूचना मिलते ही जिला प्रशासन, पुलिस एवं बचाव दल मौके पर पहुंचे और रेस्क्यू शुरू किया। यह रेस्क्यू शुक्रवार देर रात तक जारी रहा। इस दौरान कुएं से 11 लोगों के शव बरामद हुए। विदिशा कलेक्टर डॉ. पंकज जैन ने बताया कि राहत एवं बचाव कार्य के दौरान शुरुआत में ही 20 लोगों को सुरक्षित निकाल लिया गया था, जबकि शुक्रवार रात करीब 10.30 बजे तक चले रेस्क्यू में 11 लोगों के शव बरामद हुए हैं। इनमें दो शव गुरुवार रात 2 बजे, तीसरा शव रात 3:30 बजे, चौथा शव शुक्रवार सुबह 6 बजे, पांचवां शव दोपहर 3:30 बजे, छठवां शव शाम 7 बजे, आठवां व नौवां शव शाम 7:30 बजे और 10वां शव रात 10 बजे और आखिरी 11वां शव रात करीब सवा 10 बजे कुएं से निकाला गया। इसके बाद रेस्क्यू समाप्त कर दिया गया।मृतकों में संदीप (18) पुत्र अखिलेश खंगार, शुभम (18) पुत्र सुनील बाल्मीकि, सुनील (40) पुत्र सुभान बाल्मीकि, विक्की नाथ (25) पुत्र शिवनाथ, दीनू (26) पुत्र धन सिंह परिहार, नरेश (35) पुत्र रतिराम नाथ, गोविन्द (32) पुत्र करण सिंह कुशवाह, 40 वर्षीय नारायण कुशवाह, पवन (18) पुत्र बालकिशन लोधी और 15 वर्षीय कृष्ण गोपाल (बिट्टू) के अलावा आखिरी शव उस 10 वर्षीय बालक रवि पुत्र उमकार अहिरवार का है, जो पानी भरते समय कुएं में जा गिरा था और उसके कुएं में गिरने की खबर के बाद ग्रामीण घटनास्थल पर एकत्रित हुए थे।इधर, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शुक्रवार देर रात ट्वीट करते हुए कहा है कि गंजबासौदा का 24 घंटे का रेस्क्यू ऑपरेशन समाप्त हो गया है। कुएं से 11 पार्थिव शरीर निकाले गये हैं। यह एक दुर्भाग्यपूर्ण घटना है। दु:ख की इस घड़ी में हम शोकाकुल परिवार के साथ हैं। ईश्वर से दिवंगत आत्माओं की शांति के लिए प्रार्थना करता हूं।मुख्यमंत्री ने कहा कि ग्रामवासी, विश्वास सारंग जी, गोविंद सिंह राजपूत जी, आईजी, कमिश्नर, कलेक्टर, एसपी व पूरी NDRF, SDRF, प्रशासकीय टीम ने अथक परिश्रम किया। हम सब पीड़ित परिवारों के साथ हैं और उनकी हरसंभव सहायता की जायेगी। मैंने मौके पर टीम से वीडियो कॉल से बात की और ऑपरेशन का जायजा लिया। अब 24 घंटे के बाद ऑपरेशन समाप्त किया है लेकिन बैरिकेड लगाकर कोई क्लेम हो, तो और दो दिन हम देखेंगे।  

Dakhal News

Dakhal News 17 July 2021


indore,Former minister ,Sajjan Singh Verma, wrote a letter, Gadkari

इंदौर। पूर्व मंत्री और कांग्रेस नेता सज्जनसिंह वर्मा ने केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी को पत्र लिखा है। उन्होंने गडकरी को सबसे सफल मंत्री बताते हुए लिखा है कि हमारे क्षेत्र में आपके अधिकारी भ्रष्टाचार कर रहे हैं। वर्मा ने अपने पत्र में देवास जिले में फोरलेन के चौड़करण में की जा रही अनियमितताओं की जानकारी भी दी है। पूर्व मंत्री वर्मा ने गडकरी की तारीफ करते हुए पत्र में लिखा है कि आप भारत सरकार के सफलतम मंत्रियों में से एक हैं, आप पारदर्शिता के साथ काम करने में विश्वास रखते हैं। मुझे उम्मीद है कि सबसे सफल मंत्री के नाते आपके विभाग की छवि को धूमिल करने वाले अधिकारियों पर कार्रवाई कर ग्रामीणों को न्याय दिलाएंगे। उन्होंने लिखा है कि मध्यप्रदेश के देवास में नेशनल हाइवे 7 के फोरलेन चौड़ीकरण में अधिग्रहण किए गए मकान और जमीन के अवार्ड में अधिकारियों द्वारा भारी अनियमितता और भ्रष्टाचार किया जा रहा है। आप (नितिन गडकरी) पारदर्शिता के साथ काम करने में विश्वास रखते हैं। आपने पहले भी मेरे पीडब्लूडी मंत्री रहते हुए निवेदन पर देवास जिले के लिए करोड़ों रुपए की सौगात जिसमें सिक्स लेन, फोरलेन सड़क एवं ओवर ब्रिज दी है। वर्मा ने पत्र में कहा है कि वर्तमान में आपके रहते आपके मंत्रालय के द्वारा जारी की गई अवार्ड राशि को लेकर स्थानीय अधिकारियों द्वारा भारी भ्रष्टाचार एवं अनियमितताओं की शिकायत देवास जिले के ग्राम गुराड़िया, दुलवा, रामनगर तहसील खातेगांव एवं ग्राम मनासा तह कन्नौद के लोगों द्वारा आपके नाम पत्र (ज्ञापन) मुझे सौंपा है। इस संबंध में ग्रामीण पिछले कई दिनों से आंदोलन भी चला रहे हैं। मुझे उम्मीद है कि भारत सरकार के सबसे सफल मंत्री के नाते आपके विभाग की छवि को धूमिल करने वाले अधिकारियों पर कार्रवाई करते हुए ग्रामीणों को न्याय दिलाएंगे।

Dakhal News

Dakhal News 16 July 2021


bhopal,Kamal Nath ,expressed grief ,over Vidisha accident

भोपाल। मध्य प्रदेश के पूर्व सीएम और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने विदिशा जिले के गंजबासौदा में भरभरा का कुंए में कई लोगों के गिरने की घटना पर दुख जताया है। उन्होंने मृतकों की आत्म शांति की प्रार्थना करते हुए घायलों के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना की है। साथ ही कमलनाथ ने इस घटना को लेकर शिवराज सरकार पर सवाल उठाए है? कमलनाथ ने कहा कि इस घटना की शुरुआत शाम 6:10 पर एक 13 वर्ष के रवि अहिरवार नाम के एक बालक के इस गहरे कुएं में गिरने से हो चुकी थी। क्षेत्रीय ग्रामीणजनों ने व जिम्मेदार लोगों ने पुलिस कंट्रोल से लेकर क्षेत्र के प्रशासन के व पुलिस के जिम्मेदार अधिकारियों को इस घटना की सूचना देने के लिये कई फोन लगाए लेकिन किसी भी जिम्मेदार अधिकारी से बात तक नही हो पायी? यदि उसी समय कुंए के आसपास मौजूद भीड़ को हटा दिया जाता तो इस घटना को रोका जा सकता था? थोड़ी देर बाद भीड़ के दबाव से इस कुएं की मुंडेर धसने से कई लोग गहरे पानी में गिर गए? पूर्व सीएम ने कहा कि प्रशासन के जिम्मेदार अधिकारी उस समय कहीं और व्यस्त रहे? घटनास्थल पर जिम्मेदार प्रशासन के आला अधिकारी काफ़ी देरी से पहुंचे, एसडीआरएफ़ का दल भी रात 10:00 बजे के आसपास मौके पर पहुंचा, जिसके कारण राहत कार्य काफ़ी देरी से शुरू हुआ, तब तक क्षेत्रीय ग्रामीण जन खुद अपने स्तर पर बचाव कार्य करते रहे ? कमलनाथ ने कहा कि क्षेत्र में पानी के संकट के कारण लोग इसी जर्जर कुए से पानी लेने को मजबूर थे, इसकी जगत काफी क्षति ग्रस्त व जर्जर हो चुकी थी, इसकी मरम्मत की मांग भी कई बार उठी लेकिन जिम्मेदार लोगों ने इस पर ध्यान नहीं दिया ? राहत कार्य देरी से प्रारंभ होने के कारण कई लोगों को बचाया नही जा सका, अभी भी कुछ शव मिल चुके हैं और कई अभी भी लापता है ? उन्होंने आश्चर्य जताते हुए कहा कि प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान खुद घटनास्थल से काफ़ी करीब होने के बावजूद, विदिशा जिले में ही होने के बावजूद ना रात में घटनास्थल पर पहुंचे और ना अभी तक पहुँचे ? यह बेहद गंभीर मामला है कि प्रशासन के आला अधिकारी कही और व्यस्त होने के कारण व बचाव दल की टीम भी काफी देरी से घटनास्थल पर पहुंची ? कमलनाथ ने मांग करते हुए कहा कि मैं शिवराज सरकार से मांग करता हूं कि प्रत्येक मृतक के परिवार को 15 लाख रुपए की सहायता राशि, प्रत्येक घायल को 2 लाख रुपये की सहायता राशि और मृतक के परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी दी जाए, सभी घायलों का सरकारी खर्च पर समुचित इलाज करवाया जाए। पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने इस घटना की जांच को लेकर कांग्रेस की एक जांच टीम बनाई है ,जो मौके पर जाकर पूरी जांच कर अपनी रिपोर्ट मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी को सौंपेगी।

Dakhal News

Dakhal News 16 July 2021


vidisha,Well of death, Four bodies removed, many still missing

विदिशा। मध्य प्रदेश के विदिशा जिले के गंजबासौदा में गुरुवार रात बड़ा हादसा हो गया। यहां लाल पठार गांव में एक कुएं में बच्चे के गिरने के बाद उसे निकालने पहुंचे लोगों की भीड़ की वजह से कुआं धंस गया, जिसके चलते कई लोग अंदर जा गिरे। एनडीआरएफ, एसडीआरएफ और स्थानीय प्रशासन की टीम ने रात में ही रेस्क्यू ऑपरेशन शुरू किया और शुक्रवार सुबह तक 20 लोगों को निकालकर अस्पताल पहुंचाया गया। कुएं से अभीतक 4 लोगों के शव निकाले गए हैं। अभी भी कई लोग लापता हैं। हादसा गुरुवार रात उस वक्त हुआ जब गांव के संदीप परिहार नामक बच्चे की कुएं में गिरने की सूचना पर बड़ी संख्या में ग्रामीण उसे निकालने के लिए कुएं की छत पर खड़े हो गए। जिससे कुएं की छत भरभरा कर गिर गई और कई लोग कुएं में गिर गए। तकरीबन 30 फीट गहरे कुएं में 10-15 फीट तक पानी था। घटना की जानकारी मिलते ही प्रशासन के तमाम अधिकारी मौके पर पहुंचे जेसीबी समेत अन्य मशीनों के जरिए राहत और बचाव कार्य शुरू किया। कमिश्नर कवींद्र कियावत के साथ ही पुलिस महानिरीक्षक साई मनोहर भी मौके पर पहुंच गए थे। उधर, रात तकरीबन 11 बजे राहत कार्य में लगा एक ट्रैक्टर भी जमीन के धंसने से गिर गया। देर रात तक कुएं का पानी निकालने की कवायद की गई। कुएं के पास से जेसीबी की मदद से नाली खोदी गई है। रात डेढ़ बजे कुएं का दस फीट पानी बाहर निकालने के बाद एनडीआरएफ की टीम कुएं में उतरी। कुएं में अब भी करीब 10 फीट पानी बचा है। कुएं में गिरा ट्रैक्टर निकाल लिया गया। आधिकारिक तौर पर कोई भी यह बताने को तैयार नहीं है कि कुएं के पास कितने लोग जमा थे और कितने लोग कुएं में गिर गए। अबतक चार शव मौके से निकाले गए हैं। सूत्रों के अनुसार करीब एक दर्जन लोग मलबे में दबे हो सकते हैं। बताया जाता है कि कुएं को खाली करते समय कुएं की दीवार भी धंस जाने से बचाव कार्य काफी प्रभावित हुआ। बचाव कार्य में लगे होमगार्ड के दो जवान, ट्रैक्टर और डीजल पंप भी कुएं में गिर गए। हालांकि दोनों होमगार्ड जवानों को निकाल लिया गया है। सीएम ने दिए उच्चस्तरीय जांच के आदेश मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान विदिशा में अपनी गोद ली हुई बेटियों की शादी के मौके पर मौजूद थे इसलिए उन्होंने विवाह स्थल को ही कंट्रोल रूम बना दिया। हादसे के तुरंत बाद प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने तमाम बड़े अधिकारियों से बात कर राहत और बचाव कार्य में तेजी लाने के लिए कहा। शुक्रवार सुबह सीएम ने मृतकों के परिवार वालों को 5 लाख रुपए और घायलों को 50 हजार की सहायता का ऐलान किया है। सीएम ने कहा कि घटना की सतत निगरानी की जा रही है। सीएम शिवराज ने मामले की जांच के आदेश देते हुए प्रभावितों को हरसंभव मदद की बात कही है। वहीं, विदिशा जिले के प्रभारी मंत्री विश्वास सारंग भी मुख्यमंत्री के निर्देश के बाद भोपाल से मौके पर पहुंचे और लगातार राहत और बचाव कार्य निगरानी करते रहे। सरपंच ने बताई आंखो देखी ग्राम पंचायत स्वरूपनगर के सरपंच अमरसिंह कुशवाह ने बताया कि गुरुवार शाम को पानी भरने के लिए गया एक बालक संदीप परिहार कुएं में गिर गया था। उसे निकालने के लिए करीब 50 से अधिक लोग कुएं पर पहुंच गए। कुशवाह के मुताबिक इस कुएं पर लोहे की गाटर डालकर सीमेंट की छत डाल दी गयी थी। कुएं में सिर्फ बीच का हिस्सा खुला रहता था। बच्चे को निकालने पहुंचे लोग गाटर की इस छत पर चढ़ गए। भीड़ के दबाव के कारण दोनों तरफ की छत कुएं में गिर गई। इसके चलते छत पर खड़े लोग भी कुएं के पानी में जा गिरे। सरपंच के मुताबिक यह कुआं करीब 30 फीट गहरा है। जिसमें करीब 20 फीट तक पानी भरा हुआ था।  

Dakhal News

Dakhal News 16 July 2021


raisen,Health Minister ,Dr Chaudhary ,celebrated birthday , old people

रायसेन। प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी ने गुरुवार को रायसेन में महात्मा गॉधी वृद्धाश्रम पहुंचकर वृद्धजनों के साथ अपना जन्मदिन मनाया। उन्होंने वृद्धजनों को शाल, श्रीफल तथा फल वितरित किए एवं उनसे चर्चा करते हुए व्यवस्थाओं के संबंध में जानकारी ली। स्वास्थ्य मंत्री डॉ चौधरी ने वृद्धाश्रम में पार्क सहित अन्य निर्माण कार्यों का जायजा लिया। इस अवसर पर सॉंची जनपद अध्यक्ष एस मुनियन, कलेक्टर उमाशंकर भार्गव तथा जिला पंचायत सीईओ पीसी शर्मा सहित अन्य अधिकारी उपस्थित रहे। स्वास्थ्य मंत्री ने गौशाला में किया पौधरोपण   स्वास्थ्य मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी ने अपने जन्मदिन पर रायसेन में वार्ड क्रमांक-01 नरापुरा स्थित गौशाला पहुंचकर पूजा-अर्चना की तथा गायों को चारा खिलाया। उन्होंने गौशाला में भ्रमण कर व्यवस्थाओं तथा निर्माण कार्यो का जायजा लिया। साथ ही गौशाला में गायों की संख्या, उनके चारा-पानी सहित अन्य व्यवस्थाओं के संबंध में जानकारी ली। उन्होंने गौशाला परिसर में पौधरोपण किया तथा लोगों से भी अधिक से अधिक संख्या में पौधरोपण करने की अपील की। स्वास्थ्य मंत्री ने जिला चिकित्सालय का किया निरीक्षण, बेहतर इंतजाम करने के निर्देश   स्वास्थ्य मंत्री डॉ प्रभुराम चौधरी ने गुरुवार को जिला चिकित्सालय का भ्रमण कर स्वास्थ्य सेवाओं, उपचार सहित अन्य व्यवस्थाओं का निरीक्षण किया। उन्होंने जिला चिकित्सालय में निर्माणाधीन ऑक्सीजन प्लॉंट सहित अन्य निर्माण कार्यों का भी जायजा लेते हुए जल्द से जल्द निर्माण कार्य पूर्ण कराने के निर्देश सीएमएचओ डॉ दिनेश खत्री तथा सिविल सर्जन डॉ ए.के. शर्मा को दिए।स्वास्थ्य मंत्री ने जिला चिकित्सालय के निरीक्षण के दौरान पुरुष वार्ड, महिला वार्ड, शिशु वार्ड, प्रसूति वार्ड सहित अन्य वार्डों में जाकर मरीजों से चर्चा की तथा उनके स्वास्थ्य के बारे में जानकारी ली। उन्होंने मरीजों से चिकित्सकों के वार्डो में भ्रमण, स्वास्थ्य परीक्षण, उपचार सहित अन्य इंतजामों की जानकारी ली। शिशु वार्ड के निरीक्षण के दौरान उन्होंने भर्ती शिशुओं की माताओं से शिशुओं के स्वास्थ्य, उन्हें नियमित गुणवत्तापूर्ण आहार मिलने के संबंध में जानकारी ली। स्वास्थ्य मंत्री द्वारा मरीजों को फल भी वितरित किए गए। स्वास्थ्य मंत्री डॉ चौधरी ने सीएमएचओ डॉ खत्री तथा सिविल सर्जन डॉ शर्मा को और बेहतर इंतजाम करने, साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि यहां आने वाले मरीजों की नियमित जॉच करने के साथ ही उनका समुचित उपचार किया जाए।

Dakhal News

Dakhal News 15 July 2021


bhopal, Governor Mangubhai Patel ,calls on the President

भोपाल। मध्यप्रदेश के राज्यपाल मंगूभाई छगनभाई पटेल ने गुरुवार को अपने नई दिल्ली प्रवास के दौरान राष्ट्रपति भवन पहुंचकर राष्ट्रपति रामनाथ कोविन्द से सौजन्य भेंट की। जनसम्पर्क अधिकारी अजय वर्मा ने बताया कि मध्यप्रदेश के राज्यपाल का पदभार ग्रहण करने के बाद मंगूभाई छ. पटेल की राष्ट्रपति कोविन्द से यह पहली मुलाकात है। इस अवसर पर राष्ट्रपति कोविंद ने राज्यपाल पटेल को भारतीय संविधान की प्रति भेंट की।

Dakhal News

Dakhal News 15 July 2021


bhopal, Our young companions, builders of the future , country,Shivraj

भोपाल। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा विश्व युवा कौशल दिवस पर राष्ट्र को संबोधित किया गया। इस पर मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि हमारे युवा साथी देश के भविष्य के निर्माता हैं। प्रधानमंत्री मोदी के सपनों के भारत का निर्माण करने में युवा शक्ति का सबसे बड़ा योगदान होगा। दरअसल, प्रधानमंत्री मोदी ने गुरुवार को विश्व युवा कौशल दिवस के अवसर पर राष्ट्र के संबोधित किया। उन्होंने कहा कि नई पीढ़ी के युवाओं का स्किल डवलपमेंट, एक राष्ट्रीय जरूरत है, आत्मनिर्भर भारत का बहुत बड़ा आधार है। बीते 6 वर्षों में जो आधार बना, जो नए संस्थान बने, उसकी पूरी ताकत जोड़कर हमें नए सिरे से स्किल इंडिया मिशन को गति देनी है।मुख्यमंत्री चौहान ने प्रधानमंत्री के संबोधन को री-ट्वीट कर अपनी प्रतिक्रया देते हुए कहा, "हमारा देश दुनिया को स्मार्ट और स्किल्ड मैनपावर सॉल्यूशन्स दे सके, इसके लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी के नेतृत्व में केंद्र सरकार आवश्यक कदम उठा रही है। पिछले 6 वर्षों में कौशल विकास और उद्यमशीलता मंत्रालय के माध्यम से असंख्य युवाओं के कौशल को विकसित किया गया है।"शिवराज ने सिलसिलेवार ट्वीट के माध्यम से कहा है, हमें प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी के सपनों के भारत का निर्माण करना है, जिसमें युवा शक्ति का सबसे बड़ा योगदान होगा। इसी दृष्टि से हमने मध्यप्रदेश में 'ग्लोबल स्किल्स पार्क' की स्थापना की है जिसका लाभ युवाओं को मिलेगा और वे आत्मनिर्भर बनेंगे। मैं चाहता हूँ कि मध्यप्रदेश के युवा रोज़गार लेने वाले नहीं, बल्कि रोज़गार देने वाले बनें। उन्होंने कहा कि हमने स्मार्ट सिटी मिशन के अंतर्गत उद्यमिता के विकास के लिए स्टार्टअप इन्क्यूबेशन सेंटर्स स्थापित किये हैं। राष्ट्रीय शहरी आजीविका मिशन के अंतर्गत 27,000 से अधिक युवाओं को कौशल प्रशिक्षण मिला है। हमारे युवा साथी देश के भविष्य के निर्माता हैं। उनके हाथों में कौशल दे दिया जाए तो वे असंभव को भी संभव कर सकते हैं। आज विश्व युवा कौशल दिवस पर मैं मध्यप्रदेश के सभी युवा साथियों को शुभकामनाएँ देता हूँ और आश्वस्त करता हूँ कि आपके कौशल विकास के लिए हम कोई कसर नहीं छोड़ेंगे।

Dakhal News

Dakhal News 15 July 2021


bhopal, Class 10th ,exam results , declared in MP , July 14

भोपाल। मध्यप्रदेश में माध्यमिक शिक्षा मंडल द्वारा आयोजित हाईस्कूल सर्टिफिकेट (10वीं) परीक्षा और हाईस्कूल (अंध, मूक बधिर श्रेणी) के परीक्षा परिणाम बुधवार, 14 जुलाई को शाम 4 बजे घोषित किए जाएंगे। मंडल ने विद्यार्थी और अभिभावकों के लिए विभिन्न पोर्टल के माध्यम से परीक्षा परिणाम जानने की सुविधा उपलब्ध करायी है। जनसम्पर्क अधिकारी अनुराग उइके ने सोमवार को इसकी जानकारी देते हुए बताया कि विद्यार्थी और अभिभावक एमपी बोर्ड के पोर्टल https://mpbse.mponline.gov.in, www.mpbse.nic.in और www.mpresults.nic.in समेत अन्य मीडिया प्लेटफार्म पर परीक्षा परिणाम देश सकते हैं।मोबाइल एप पर देखे परीक्षा परिणामसभी विद्यार्थी MPBSE MOBILE ऐप या MP Mobile ऐप पर 'Know Your Result' का चयन करने के बाद अपना अनुक्रमांक और आवेदन क्रमांक दर्ज कर परीक्षा परिणाम जान सकेंगे।

Dakhal News

Dakhal News 12 July 2021


bhopal, Red alert issued , MP after the revelation ,terrorist conspiracy in Uttar Pradesh

भोपाल। जम्मू कश्मीर में चल रही आतंकी गतिविधियों और उत्तर प्रदेश में पकड़े गए आतंकवादियों के मद्देनजर पुलिस महानिदेशक को निर्देशित किया गया है कि पूरे प्रदेश में रेड अलर्ट जारी कर करने संबंधी आदेश जारी करें। इस संबंध में सोमवार को गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने डीजीपी को निर्देश दिया है। गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि उत्तर प्रदेश में आतंकी घटना की साजिश के खुलासे के चलते मध्य प्रदेश में अलर्ट जारी करने के निर्देश डीजीपी विवेक जौहरी को दिए हैं। इसके अलावा सिमी और अन्य आतंकी संगठनों से जुड़े संदेही लोगों की पहचान और निगरानी करने को भी कहा है। गृहमंत्री ने कहा कि मैंने डीजीपी को निर्देश दिए हैं कि तत्काल प्रदेश के अंदर अलर्ट कर आदेश जारी कर दें। वहीं नक्सलवाद को लेकर गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि मध्य प्रदेश में नक्सलियों का नेटवर्क खत्म करना सरकार की प्राथमिकता में शामिल है। प्रदेश में हम किसी भी सूरत में नक्सलवाद को फैलने नहीं देंगे। प्रदेश की पुलिस पूरी तरह सतर्क है। जहां भी इस प्रकार की संदिग्ध गतिविधियां पाई जाएगी सख्ती से निपटा जाएगा। नक्सल प्रभावित इलाकों में टॉस्क फोर्स और केंद्रीय सुरक्षा बल मुस्तैदी से काम कर रहे हैं।

Dakhal News

Dakhal News 12 July 2021


bhopal,CM Shivraj, met Union Minister Tomar, discussed the issues of farmers

भोपाल। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान अपने नई दिल्ली प्रवास के दौरान बीती रात केन्द्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर से उनके निवास पर मुलाकात की । इस दौरान मुख्यमंत्री चौहान ने उनके बीच किसानों से जुड़े विभिन्न विषयों पर चर्चा की। केन्द्रीय मंत्री तोमर ने चर्चा के विषयों पर आवश्यक कार्रवाई का आश्वासन दिया। बता दें कि मुख्यमंत्री चौहान रविवार देर शाम दिल्ली पहुंचे थे। यहां उन्होंने पहले केंद्रीय सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री वीरेन्द्र कुमार के निवास पर पहुंचकर उन्हें पदभार ग्रहण करने पर बधाई दी। इसके बाद वे केन्द्रीय मंत्री तोमर के निवास पहुंचे।मुख्यमंत्री ने सिलसिलेवार ट्वीट करते हुए कहा है कि उन्होंने नई दिल्ली में केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर जी से भेंट की और उनसे प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के वर्ष 2021-22 के लिए सरप्लस शेयरिंग माडल को प्रदेश में क्रियान्वित करने के लिए अनुमति प्रदान करने का अनुरोध किया। शिवराज ने आगे लिखा है कि-प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना खरीफ 2020 एवं रबी 2020-21 में क्रियान्वित करने के लिए बीमा कम्पनियों के चयन के लिए 3 बार निविदा जारी की गई, किन्तु प्रीमियम दरें अधिक आने के कारण शासन द्वारा 80-110 प्रतिशत सरप्लस शेयरिंग माडल को मध्यप्रदेश में लागू किया गया है।उन्होंने कहा है कि सरप्लस शेयरिंग माडल के अनुसार बीमा कम्पनी की क्लेम देनदारियां कुल प्रीमियम के 80 से 110% रहेंगी। कुल प्रीमियम के 110% से अधिक स्तर का क्लेम राज्य शासन द्वारा वहन किया जायेगा तथा 80% से कम दावा बनने पर बीमा कम्पनी द्वारा 80% सीमा के अतिरिक्त की राशि राज्य शासन को वापस की जायेगी। सरप्लस शेयरिंग माडल में क्लेम की गणना में राज्य शासन की सहभागिता होती है, जिससे किसानों को पारदर्शी व्यवस्था से बीमा का लाभ मिलता है तथा प्रीमियम की राशि कम होने से राज्यांश तथा केन्द्रांश की राशि कम रहती है।मुख्यमंत्री चौहान ने केन्द्रीय मंत्री तोमर से प्राइस सपोर्ट स्कीम के अंतर्गत ग्रीष्मकालीन फसल मूंग का 5.00 लाख मीट्रिक टन उपार्जन लक्ष्य बढ़ाने का भी अनुरोध किया। केन्द्रीय मंत्री ने इस संबंध में आवश्यक कार्रवाई करने का आश्वासन दिया है, जिसके लिए मुख्यमंत्री चौहान ने उनके प्रति आभार प्रकट किया है।  

Dakhal News

Dakhal News 12 July 2021


bhopal, Scindia first gift ,MP after becoming, Minister of Aviation

भोपाल/ग्वालियर। केन्द्र सरकार में नागरिक उड्डयन मंत्री बनाए गए मध्यप्रदेश के दिग्गज नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया ने अपने मंत्रालय का कार्यभार संभालने के साथ ही अपना काम भी शुरू कर दिया है। उन्होंने अपना प्रभार संभालने के बाद सबसे पहली सौगात मध्य प्रदेश को दी है। उड्डयन मंत्रालय द्वारा मध्य प्रदेश के लिए आठ नई उड़ानों को मंजूरी दी गई है। स्पाइस जेट की यह नए फ्लाइट्स आगामी 16 जुलाई से शुरू होने जा रही हैं।केन्द्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने रविवार को ट्वीट के माध्यम से इसकी जानकारी साझा करते हुए कहा है कि -"प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी के कुशल नेतृत्व में नागरिक उड्डन मंत्रालय उड़ानों को नई ऊंचाइयों की ओर अग्रसर करने के लिए पूरी तरह से संकल्पित है। हमारे लिए अत्यंत हर्ष का विषय है कि स्पाइस जेट 16 जुलाई से मध्यप्रदेश से 8 नई उड़ाने शुरू करने जा रहा है। इनमें ग्वालियर-मुम्बई-ग्वालियर, ग्वालियर-पुणे-ग्वालियर, जबलपुर-सूरत-जबलपुर, अहमदाबाद-ग्वालियर-अहमदाबाद शामिल हैं।"खास बात यह है कि नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने जिन आठ नई उड़ानों को स्वीकृति दी है, उनमें से छह उड़ानें ग्वालियर को अहमदाबाद, पुणे और मुम्बई जैसे बड़े नगरों को हवाई सेवा से सीधे जोड़ देंगी।गौरतलब है कि मध्यप्रदेश में इंदौर-भोपाल को छोड़कर अन्य शहर एयर कनेक्टिविटी के मामले में बहुत पीछे हैं। इनमें ज्योतिरादित्य सिंधिया का गढ़ माना जाने वाला ग्वालियर-चंबल अंचल भी शामिल है। यहां वर्तमान में बैंगलुरू, जम्मू, हैदराबाद, नई दिल्ली और कोलकाता के लिए हवाई सेवा उपलब्ध है। ग्वालियर के लोग लम्बे समय से मुंबई, पुणे के लिए हवाई सुविधा उपलब्ध कराने की मांग कर रहे थे। सिंधिया भी इसके लिए लंबे समय से प्रयासरत थे। अब नागरिक उड्डयन मंत्री बनने के बाद उन्होंने ग्वालियर के नागरिकों की इस मांग को पूरा किया है। मध्यप्रदेश से स्पाइस जेट की आठ उड़ानें आगामी 16 जुलाई से शुरू हो रही हैं। इसके अंचल के विकास को गति मिलने की संभावना है।

Dakhal News

Dakhal News 11 July 2021


bhopal, Population Day, country aware and cooperate, upliftment ,Shivraj

  भोपाल। दुनियाभर में बढ़ती आबादी के प्रति नागरिकों को जागरूक करने के लिए हर साल 11 जुलाई को पूरे विश्व में जनसंख्या दिवस मनाया जाता है। इस अवसर पर मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने जनसंख्या विस्फोट से उत्पन्न होने वाले खतरे के प्रति देश को जागरूक कर राष्ट्रोत्थान में सहयोग करने की अपील की है। सीएम शिवराज ने रविवार को ट्वीट करते हुए कहा कि -"जीवन के हर क्षेत्र में चेतना परम आवश्यक है। सचेत एवं जागरुक नागरिक राष्ट्र की प्रगति तथा उन्नति का सशक्त आधार होता है। जनसंख्या को नियंत्रित करने के लिए सामूहिक प्रयासों से सभी के लिए आवश्यक संसाधनों को सुनिश्चित करने में सहयोग करें। जनसंख्या विस्फोट से उत्पन्न होने वाले खतरे के प्रति देश को जागरुक कर आप भी राष्ट्रोत्थान में अपना योगदान दीजिये।  

Dakhal News

Dakhal News 11 July 2021


bhopal, Population Day, country aware and cooperate, upliftment ,Shivraj

  भोपाल। दुनियाभर में बढ़ती आबादी के प्रति नागरिकों को जागरूक करने के लिए हर साल 11 जुलाई को पूरे विश्व में जनसंख्या दिवस मनाया जाता है। इस अवसर पर मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने जनसंख्या विस्फोट से उत्पन्न होने वाले खतरे के प्रति देश को जागरूक कर राष्ट्रोत्थान में सहयोग करने की अपील की है। सीएम शिवराज ने रविवार को ट्वीट करते हुए कहा कि -"जीवन के हर क्षेत्र में चेतना परम आवश्यक है। सचेत एवं जागरुक नागरिक राष्ट्र की प्रगति तथा उन्नति का सशक्त आधार होता है। जनसंख्या को नियंत्रित करने के लिए सामूहिक प्रयासों से सभी के लिए आवश्यक संसाधनों को सुनिश्चित करने में सहयोग करें। जनसंख्या विस्फोट से उत्पन्न होने वाले खतरे के प्रति देश को जागरुक कर आप भी राष्ट्रोत्थान में अपना योगदान दीजिये।  

Dakhal News

Dakhal News 11 July 2021


bhopal, No children orphans, make all their arrangements Shivraj

भोपाल। मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना अद्भुत योजना है। हमारे रहते हुए कोई बच्चा अनाथ नहीं होगा। वह हमारे बच्चे हैं। हम उनकी शिक्षा, आश्रय, भोजन आदि की व्यवस्था करेंगे। वह पढ़ लिखकर ठीक दिशा में जाएं इस पर कोई कसर नहीं छोड़ेंगे। यह बातें मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मंदसौर में नवनिर्मित आरटी-पीसीआर लैब का लोकार्पण करते हुए कही। मुख्यमंत्री चौहान ने गुरुवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से मंदसौर में आरटी-पीसीआर लैब का लोकार्पण किया। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि मंदसौर के समाजसेवियों ने कमाल का काम किया है। अस्पताल का कायाकल्प कर डाला। आरटी-पीसीआर लैब के साथ, सीटी स्कैन से लेकर प्लाज्मा तक एक नई व्यवस्था खड़ी की और 250 ऑक्सीजन बेड तैयार हैं। कोविड की तीसरी लहर से मुकाबले की मंदसौर ने पूरी तैयारी की है। मुख्यमंत्री ने कहा कि मंदसौर के सभी धर्मगुरूओं को, सभी प्रबुद्धजन, वरिष्ठगण, हमारे सभी प्रोफेसर, चिकित्सक, समाजसेवी, स्वयंसेवी संस्थाओं, जिला प्रशासन की टीम, जिन्होंने कोरोना से निपटने और नियंत्रित करने के जो प्रयास किये उसके लिये मैं आपको धन्यवाद देता हूं। उन्होंने कहा कि हमारे कई भाई-बहन कर्मचारी कोविड के दौरान संक्रमित होकर दुनिया से चले गए। मैं उनके परिवारों के प्रति संवेदनाएं प्रकट करता हूं। हमने तय किया है कि हमारे दिवंगत कर्मचारियों के पात्र आश्रितों को उसी पोस्ट पर अनुकंपा नियुक्ति देंगे। आज 24 को अनुकंपा नियुक्ति दी जा रही है। मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना अद्भुत योजना है। हमारे रहते हुए कोई बच्चा अनाथ नहीं होगा। वह हमारे बच्चे हैं। हम उनकी शिक्षा, आश्रय, भोजन आदि की व्यवस्था करेंगे। वह बढ़ लिखकर ठीक दिशा में जाए इस पर कोई कसर नहीं छोड़ेंगे। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि ये बात सच है कि आज कोविड का संक्रमण नियंत्रण में है। देश में मध्यप्रदेश संक्रमण की दृष्टि से सबसे निचले स्तर पर है। लेकिन अभी सावधान रहने की जरूरत है। मेरी अपील है कि जिले के हर कोने में खूब टेस्ट करें, कोई संक्रमित हो तो तुरंत पकड़ में आ जाए। किल कोरोना अभियान जारी रहेगा। लक्षण दिखने पर तुरंत टेस्ट करें। मंदसौर अद्भुत शहर है। यहां सेवा, सहयोग की भावना जबरदस्त है। मंदसौर उदाहरण बन सकता है कोरोना संकट को रोकने के अनुकूल व्यवहार का। सब काम चलें, लेकिन मास्क लगा रहे और सोशल डिस्टेंसिंग के नियम का पालन करें।

Dakhal News

Dakhal News 8 July 2021


bhopal, No children orphans, make all their arrangements Shivraj

भोपाल। मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना अद्भुत योजना है। हमारे रहते हुए कोई बच्चा अनाथ नहीं होगा। वह हमारे बच्चे हैं। हम उनकी शिक्षा, आश्रय, भोजन आदि की व्यवस्था करेंगे। वह पढ़ लिखकर ठीक दिशा में जाएं इस पर कोई कसर नहीं छोड़ेंगे। यह बातें मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मंदसौर में नवनिर्मित आरटी-पीसीआर लैब का लोकार्पण करते हुए कही। मुख्यमंत्री चौहान ने गुरुवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से मंदसौर में आरटी-पीसीआर लैब का लोकार्पण किया। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि मंदसौर के समाजसेवियों ने कमाल का काम किया है। अस्पताल का कायाकल्प कर डाला। आरटी-पीसीआर लैब के साथ, सीटी स्कैन से लेकर प्लाज्मा तक एक नई व्यवस्था खड़ी की और 250 ऑक्सीजन बेड तैयार हैं। कोविड की तीसरी लहर से मुकाबले की मंदसौर ने पूरी तैयारी की है। मुख्यमंत्री ने कहा कि मंदसौर के सभी धर्मगुरूओं को, सभी प्रबुद्धजन, वरिष्ठगण, हमारे सभी प्रोफेसर, चिकित्सक, समाजसेवी, स्वयंसेवी संस्थाओं, जिला प्रशासन की टीम, जिन्होंने कोरोना से निपटने और नियंत्रित करने के जो प्रयास किये उसके लिये मैं आपको धन्यवाद देता हूं। उन्होंने कहा कि हमारे कई भाई-बहन कर्मचारी कोविड के दौरान संक्रमित होकर दुनिया से चले गए। मैं उनके परिवारों के प्रति संवेदनाएं प्रकट करता हूं। हमने तय किया है कि हमारे दिवंगत कर्मचारियों के पात्र आश्रितों को उसी पोस्ट पर अनुकंपा नियुक्ति देंगे। आज 24 को अनुकंपा नियुक्ति दी जा रही है। मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना अद्भुत योजना है। हमारे रहते हुए कोई बच्चा अनाथ नहीं होगा। वह हमारे बच्चे हैं। हम उनकी शिक्षा, आश्रय, भोजन आदि की व्यवस्था करेंगे। वह बढ़ लिखकर ठीक दिशा में जाए इस पर कोई कसर नहीं छोड़ेंगे। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि ये बात सच है कि आज कोविड का संक्रमण नियंत्रण में है। देश में मध्यप्रदेश संक्रमण की दृष्टि से सबसे निचले स्तर पर है। लेकिन अभी सावधान रहने की जरूरत है। मेरी अपील है कि जिले के हर कोने में खूब टेस्ट करें, कोई संक्रमित हो तो तुरंत पकड़ में आ जाए। किल कोरोना अभियान जारी रहेगा। लक्षण दिखने पर तुरंत टेस्ट करें। मंदसौर अद्भुत शहर है। यहां सेवा, सहयोग की भावना जबरदस्त है। मंदसौर उदाहरण बन सकता है कोरोना संकट को रोकने के अनुकूल व्यवहार का। सब काम चलें, लेकिन मास्क लगा रहे और सोशल डिस्टेंसिंग के नियम का पालन करें।

Dakhal News

Dakhal News 8 July 2021


Gwalior, Facebook account , Union Minister ,Jyotiraditya Scindia hacked

ग्वालियर। केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया का फेसबुक अकाउंट हैक होने की खबर गुरुवार सुबह तेजी से वायरल हुई। जिसमें कुछ पुराने पोस्ट के साथ वीडियो भी अपलोड किए गए हैं। ये पोस्ट और वीडियो उस समय के बताए जा रहे हैं, जब सिंधिया कांग्रेस में हुआ करते थे, हालांकि यह दावा किया जा रहा है कि गुरुवार सुबह तक हैकिंग को रोक दिया गया है और डेटा रिकवर कर लिया गया है। राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने बुधवार को केंद्रीय मंत्री के रूप में शपथ ली थी। इसके बाद रात दो बजे करीब अचानक उनके फेसबुक अकाउंट से कई सारे पोस्ट हुए। जिसमें उनके कांग्रेस में रहते हुए दिए गए बयान और वीडियो शामिल थे। इन फोटो एवं वीडियो के पोस्ट होते ही हड़कंप मच गया। पता चला कि सिंधिया के फेसबुक एकाउंड को किसी ने हैक कर लिया है। सिंधिया समर्थक कृष्णा घाटगे ने बताया कि सुबह तक फेसबुक हैकिंग को रोक दिया गया व पूरा डेटा भी रिकवर कर लिया गया है। घाटगे के अनुसार केंद्रीय मंत्री का फेसबुक अकाउंट हैक होने की सूचना मिलते ही सायबर टीम अलर्ट मोड पर आ गई थी। इसके बाद हैकिंग को रोकने के साथ ही सभी पुरानी पोस्ट भी हटा दी गई हैं।

Dakhal News

Dakhal News 8 July 2021


bhopal, Newly appointed Governor ,Mangubhai Patel ,took charge

भोपाल। मध्यप्रदेश के नवनियुक्त राज्यपाल मंगूभाई छगनभाई पटेल ने गुरुवार को राजधानी भोपाल स्थित राजभवन में आयोजित गरिमामय समारोह में राज्यपाल का कार्यभार ग्रहण किया। मप्र उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश मोहम्मद रफीक ने उन्हें राज्यपाल पद की शपथ दिलाई। शपथ ग्रहण समारोह में मध्यप्रदेश की निवृत्तमान राज्यपाल एवं वर्तमान में उत्तरप्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, पूर्व मुख्यमंत्री एवं नेताप्रतिपक्ष कमलनाथ, गृह मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा, खेल एवं युवा कल्याण मंत्री यशोधरा राजे सिंधिया, वित्त और वाणिज्यिक कर मंत्री जगदीश देवड़ा, वन मंत्री विजय शाह, चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग, उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. मोहन यादव, खनिज साधन एवं श्रम मंत्री बृजेंद्र प्रताप सिंह, सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम मंत्री ओम प्रकाश सकलेचा, मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस, पुलिस महनिदेशक विवेक जौहरी, राज्यपाल के प्रमुख सचिव डीपी आहूजा आदि उपस्थित थे। शपथ ग्रहण समारोह का प्रारंभ एवं समापन राष्ट्र गान के साथ हुआ। इसके बाद राज्यपाल मंगूभाई छगनभाई पटेल को सम्मान गारद द्वारा सलामी दी गई। राज्यपाल मंगूभाई छगनभाई पटेल का जन्म एक जून 1944 को गुजरात के नवसारी में हुआ। वे गुजरात के नवसारी से पाँच बार और गणदेवी से एक बार विधायक रहे। उन्होंने 27 वर्ष तक विधायक के रूप में कार्य किया है। वे वर्ष 1997 से 2002 तक आदिम जाति कल्याण (स्वतंत्र प्रभार) मंत्री तथा वर्ष 2002 से 2012 तक आदिवासी कल्याण, वन और पर्यावरण मंत्री रहे हैं।

Dakhal News

Dakhal News 8 July 2021


bhopal,Digvijay took, jibe at Sarsanghchalak ,Dr. Bhagwat

भोपाल। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक डॉ. मोहनराव भागवत के ताजा बयान "हिंदू मुस्लिम अलग नहीं हैं और सभी भारतीयों का डीएनए एक है" को लेकर राजनीति शुरू हो गई है। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह ने सोशल मीडिया के माध्यम से डॉ. भागवत के बयान पर तंज कसते हुए उन्हें कुछ सलाह दी है, तो वहीं मप्र के गृह मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने डॉ. भागवत के बयान को सामाजिक समरसता को बढ़ावा देने वाला बताते हुए दिग्विजय सिंह पर पलटवार किया है। सरसंघचालक डॉ. मोहनराव भागवत ने रविवार को गाजियाबाद में एक कार्यक्रम के दौरान कहा था कि हिंदू-मुस्लिम एक हैं और इसका आधार है हमारी मातृभूमि। पूजन विधि के आधार पर हमें अलग नहीं किया जा सकता। सभी भारतीयों का डीएनए एक है। उन्होंने सभी से आह्वान किया था कि भाषा, प्रांत और अन्य विषमताओं को छोड़कर हम एक हो जाएं और भारत को विश्वगुरू बनाएं, तभी दुनिया सुरक्षित रहेगी। वरिष्ठ कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने सोमवार को सिलसिलेवार ट्वीट करते हुए कहा है कि-'मोहन भागवत जी, यह विचार क्या आप अपने शिष्यों, प्रचारकों, विश्व हिंदू परिषद, बजरंग दल कार्यकर्ताओं को भी देंगे? क्या यह शिक्षा आप मोदी शाह जी व भाजपा मुख्यमंत्री को भी देंगे?' उन्होंने आगे लिखा है कि 'यदि आप अपने व्यक्त किए गए विचारों के प्रति ईमानदार हैं, तो भाजपा में वे सब नेता जिन्होंने निर्दोष मुसलमानों को प्रताड़ित किया है उन्हें उनके पदों से तत्काल हटाने का निर्देश दें। शुरुआत नरेंद्र मोदी व योगी आदित्यनाथ से करें।' दिग्विजय सिंह ने साथ में यह भी लिखा है कि उन्हें मालूम है कि श्री भागवत ऐसा नहीं करेंगे, क्योंकि उनकी कथनी और करनी में अंतर है। श्री भागवत ने सही कहा है कि पहले हम सब भारतीय हैं, लेकिन पहले यह उन्हें अपने शिष्यों को समझाना होगा।दिग्विजय सिंह के इस बयान पर मप्र के गृह मंत्री डॉ नरोत्तम मिश्रा ने पलटवार किया है। उन्होंने ट्वीट के माध्यम से कहा है कि ‘ राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रमुख डॉ. मोहन भागवत जी का बयान सामाजिक समरसता को बढ़ावा देने वाला है, यह बात दिग्विजय सिंह जी को हजम नहीं हुई है। वे हमेशा तुष्टिकरण की राजनीति करते रहे हैं। उन्होंने अल्पसंख्यकों में भय का वातावरण पैदा करने के बजाय उनके विकास के बारे में कभी कुछ कहा या किया तो बताएं।’

Dakhal News

Dakhal News 5 July 2021


bhopal,Former Chief Minister, Kamal Nath ,reached Nemawar

भोपाल। मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने आज सोमवार को नेमावर पहुंच कर, नेमावर में आदिवासी परिवार के साथ घटित नृशंस व जघन्य हत्याकांड के पीडि़त परिवार से मुलाकात कर अपनी शोक संवेदनाए व्यक्त की। उन्होंने पीडि़त परिवार से चर्चा कर इस हत्याकांड व घटना की पूरी विस्तृत जानकारी ली। पीडि़त परिवार ने उन्हें बताया कि किस प्रकार पुलिस ने इस हत्याकांड पर शुरुआत में लापरवाही की, आरोपी खुलेआम घूमते रहे, उन्हें पकड़ा तक नहीं, उनसे पूछताछ तक नहीं की, किस प्रकार उनकी रिपोर्ट लिखने में आनाकानी की गई, किस प्रकार अपराधी को राजनीतिक संरक्षण मिलता रहा। पूर्व सीएम कमलनाथ ने पीडि़त परिवार को आश्वस्त किया कि वे चिंता ना करें, दुख की इस घड़ी में मैं और पूरी कांग्रेस आपके साथ खड़ी है, आपको न्याय दिलाने में हम हरसंभव मदद करेंगे, मैं खुद इस घटना से दुखी व आहत हूँ। जब तक पीडि़त परिवार को न्याय नहीं मिलेगा, हम चैन से नहीं बैठेंगे। कमलनाथ ने कहा कि इस पूरे मामले की सीबीआई जांच होना चाहिए ताकि आरोपियों को मिले राजनीतिक संरक्षण का खुलासा हो सके। किस प्रकार की लापरवाही इस जघन्य हत्याकांड को लेकर बरती गई, यह सब सच सामने आ सके और पीडि़त परिवार को न्याय मिल सके। इस अवसर पर उनके साथ नकुल नाथ, अरुण यादव, सज्जन वर्मा, कांतिलाल भुरिया, जीतू पटवारी, विक्रांत भुरिया व अन्य नेतागण उपस्थित थे।

Dakhal News

Dakhal News 5 July 2021


mandsour, Police caught ,Congress leaders and workers ,protest against Scindia

मंदसौर। राज्यसभा सांसद और वरिष्ठ भाजपा नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया सोमवार को एक दिवस पर प्रवास पर मंदसौर पहुंचे। यहां उन्होंने प्रसिद्ध पशुपतिनाथ मंदिर पहुंचकर भगवान के दर्शन कर आशीर्वाद लिया और पूजा-अचर्ना कर देश-प्रदेश की सुख-समृद्धि की कामना की। वहीं, सिंधिया के विरोध की तैयारी कर रहे कांग्रेस नेताओं और कार्यकर्ताओं को पुलिस ने पकड़ा और वाहन में भरकर दूसरी जगह छोड़ा।राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया अपने मंदसौर प्रवास के दौरान सुबह 10 बजे पशुपतिनाथ महादेव मंदिर पहुंचे। यहां उन्होंने लगभग आधे घंटे तक भगवान पशुपतिनाथ की पूजा-अर्चना कर आशीर्वाद प्राप्त किया। सिंधिया ने भगवान पशुपतिनाथ जी के मंदिर परिसर में भाजपा के वरिष्ठ नेताओं व कार्यकर्ताओं के साथ पौधरोपण भी किया। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि पर्यावरण की रक्षा करना हम सभी का प्रथम दायित्व है। सभी को पौधरोपण करना चाहिए।इधर, शहर के गांधी चौराहे पर कांग्रेसजनों द्वारा सिंधिया के शहर आगमन के विरोध में मुर्दाबाद के नारे लगाए जा रहे थे। पुलिस उन्हें रोकने का प्रयास किया, लेकिन कांग्रेसियों ने काले गुब्बारे छोड़े और सिंधिया को काले झंडे दिखाने का प्रयास किया। इस दौरान पुलिस से उनकी बहस हुई। पुलिस ने मौजूद सभी कांग्रेस नेताओं-कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार कर वाहन से पिपलियामंडी छोड़ दिया।ज्योतिरादित्य सिंधिया मंदसौर में भाजपा सांसद सुधीर गुप्ता के निवास पर पहुंचे और उनसे तथा उनके परिजनों से सौजन्य भेंट की। इसके बाद वे आरएसएस के जिला कार्यालय समर्पण पर जाएंगे। इसके अलावा, विधायक यशपालसिंह सिसोदिया से उनके निवास पर पहुंचकर मुलाकात करेंगे और फिर भाजपा मंडल महामंत्री रॉकी यादव, संघ पदाधिकारी गोपालकृष्ण पाटिल व भाजपा कार्यकर्ता विक्रम भटनागर के यहां पहुंचकर शोक प्रकट करेंगे।    

Dakhal News

Dakhal News 5 July 2021


indore,Chief Minister meets, former Lok Sabha Speaker ,Sumitra Mahajan

इंदौर। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शनिवार को इंदौर प्रवास के दौरान पूर्व लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन से उनके निवास पहुंचकर मुलाकात की। इस दौरान उन्होंने उनकी कुशलक्षेम जानी। मुख्यमंत्री चौहान ने श्रीमती महाजन के स्वस्थ जीवन और दीर्घायु होने की कामना की। इस अवसर पर जल संसाधन मंत्री तुलसीराम सिलावट, सांसद शंकर लालवानी, विधायक मालिनी गौड़, आकाश विजयवर्गीय तथा रमेश मेंदोला, गौरव रणदिवे, राजेश सोनकर सहित अन्य जनप्रतिनिधि मौजूद थे। मुख्यमंत्री चौहान गोलू शुक्ला के निवास भी पहुंचे।

Dakhal News

Dakhal News 3 July 2021


indore,Inauguration ,11 oxygen plants, Chief Minister ,perform Bhoomi Pujan

इंदौर। कोरोना की दूसरी लहर के दौरान ऑक्सीजन की किल्लत का सामना करने वाला इंदौर जल्द ही मेडिकल ऑक्सीजन के मामले में आत्मनिर्भर होगा। शनिवार को शहर के दौरे पर आ रहे मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान 11 ऑक्सीजन प्लांट्स का लोकार्पण करेंगे जो तैयार हो चुके हैं। वहीं, विभिन्न अस्पतालों में बनने वाले 25 ऑक्सीजन प्लांट्स के लिए भूमिपूजन भी करेंगे। इंदौर ऑक्सीजन के क्षेत्र में आत्मनिर्भर बनने के लिए तेजी से आगे बढ़ रहा है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान शनिवार को इंदौर को कोरोना से निपटने के लिए एक बड़ी ताकत देने वाले हैं। मुख्यमंत्री चौहान सवा ग्यारह करोड़ रुपए से अधिक लागत से निर्मित 11 अस्पतालों में बने ऑक्सीजन प्लांट का लोकार्पण करेंगे। इन प्लांट्स की क्षमता 23.34 टन है। साथ ही वे 25 और अस्पतालों में बनने वाले ऑक्सीजन प्लांट का भूमिपूजन भी करेंगे। गौरतलब है कि इंदौर में 5 अस्पतालों में पिछले एक माह में ऑक्सीजन प्लांट लग चुके हैं। यह सभी काम करने लगे हैं। इनमें बॉम्बे अस्पताल, सी-3 अस्पताल, सेंट फ्रांसिस अस्पताल, चोइथराम अस्पताल तथा आनंद अस्पताल में बने ऑक्सीजन प्लांट शामिल हैं।इन अस्पतालों के ऑक्सीजन प्लांट्स का लोकार्पण करेंगे सीएम मुख्यमंत्री शनिवार को अरविंदो अस्पताल, इंडेक्स अस्पताल, सीएचएल अपोलो अस्पताल, चेस्ट वार्ड अस्पताल, एमआरटीबी अस्पताल, एमटीएच अस्पताल, मध्यभारत अस्पताल महू, सेवाकुंज अस्पताल, एसएमएस इनर्जी अस्पताल, मेदांता अस्पताल तथा पीसी सेठी अस्पताल में बने ऑक्सीजन प्लांट का लोकार्पण करेंगे।

Dakhal News

Dakhal News 3 July 2021


indore,Inauguration ,11 oxygen plants, Chief Minister ,perform Bhoomi Pujan

इंदौर। कोरोना की दूसरी लहर के दौरान ऑक्सीजन की किल्लत का सामना करने वाला इंदौर जल्द ही मेडिकल ऑक्सीजन के मामले में आत्मनिर्भर होगा। शनिवार को शहर के दौरे पर आ रहे मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान 11 ऑक्सीजन प्लांट्स का लोकार्पण करेंगे जो तैयार हो चुके हैं। वहीं, विभिन्न अस्पतालों में बनने वाले 25 ऑक्सीजन प्लांट्स के लिए भूमिपूजन भी करेंगे। इंदौर ऑक्सीजन के क्षेत्र में आत्मनिर्भर बनने के लिए तेजी से आगे बढ़ रहा है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान शनिवार को इंदौर को कोरोना से निपटने के लिए एक बड़ी ताकत देने वाले हैं। मुख्यमंत्री चौहान सवा ग्यारह करोड़ रुपए से अधिक लागत से निर्मित 11 अस्पतालों में बने ऑक्सीजन प्लांट का लोकार्पण करेंगे। इन प्लांट्स की क्षमता 23.34 टन है। साथ ही वे 25 और अस्पतालों में बनने वाले ऑक्सीजन प्लांट का भूमिपूजन भी करेंगे। गौरतलब है कि इंदौर में 5 अस्पतालों में पिछले एक माह में ऑक्सीजन प्लांट लग चुके हैं। यह सभी काम करने लगे हैं। इनमें बॉम्बे अस्पताल, सी-3 अस्पताल, सेंट फ्रांसिस अस्पताल, चोइथराम अस्पताल तथा आनंद अस्पताल में बने ऑक्सीजन प्लांट शामिल हैं।इन अस्पतालों के ऑक्सीजन प्लांट्स का लोकार्पण करेंगे सीएम मुख्यमंत्री शनिवार को अरविंदो अस्पताल, इंडेक्स अस्पताल, सीएचएल अपोलो अस्पताल, चेस्ट वार्ड अस्पताल, एमआरटीबी अस्पताल, एमटीएच अस्पताल, मध्यभारत अस्पताल महू, सेवाकुंज अस्पताल, एसएमएस इनर्जी अस्पताल, मेदांता अस्पताल तथा पीसी सेठी अस्पताल में बने ऑक्सीजन प्लांट का लोकार्पण करेंगे।

Dakhal News

Dakhal News 3 July 2021


bhopal, Foundation stone ,114 godowns ,cooperative union, 55 godowns inaugurated

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शनिवार को अंतरराष्ट्रीय सहकारिता दिवस के अवसर पर आयोजित "सहकारिता के माध्यम से बेहतर पुनर्निर्माण" कार्यक्रम में आवास सहकारी संघ एवं विपणन सहकारी संघ द्वारा नवीन स्वीकृत 114 गोदामों का शिलान्यास एवं विपणन सहकारी संघ एवं आवास द्वारा निर्मित 55 गोदामों का लोकार्पण किया। इस अवसर पर उन्होंने सहकारिता विभाग के विभागीय कार्य मेन्युअल का विमोचन भी किया। इस अवसर पर प्रदेश के सहकारिता मंत्री अरविन्द भदौरिया मौजूद रहे। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कार्यक्रम का शुभारंभ दीप प्रज्जवलन कर किया। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि अंतरराष्ट्रीय सहकारिता दिवस पर हम संकल्प ले सकते हैं कि इस क्षेत्र को सच्चे अर्थों में सहकारी बनाकर हम अपना, अपने क्षेत्र, अपने प्रदेश और देश को तथा यहां के लोगों को खुशहाल बनाएं।उन्होंने कहा कि हमें गर्व होना चाहिए कि सहकारिता क्षेत्र में मध्यप्रदेश की पहचान है। यह बात बहुत कम लोगों को मालूम होगी, लेकिन मैंने कहीं पढ़ा था कि देश का पहला सहकारी बैंक आज के जबलपुर जिले की सीहोरा तहसील में वर्ष 1907 में पं. विष्णुदत्त शुक्ल ने स्थापित किया था।उन्होंने कहा कि सहकारिता को अपनाकर हमारे किसान भाई, शिल्पी, कारीगर, छोटे उद्यमी, बहुराष्ट्रीय कंपनियों एवं बड़े उद्योग घरानों की प्रतिस्पर्धी दौड़ में अपनी पहचान बनाये रख सकते हैं। इसलिए मध्यप्रदेश को आत्मनिर्भर बनाने में भी सहकारिता की महत्वपूर्ण भूमिका हो सकती है। मध्यप्रदेश के विकास और प्रदेशवासियों की तरक्की के प्रयासों, खासतौर से किसानों की आर्थिक प्रगति में सहकारिता का विशेष योगदान है।मुख्यमंत्री ने कहा कि सहकारिता का मूल है सहकार अर्थात सहयोग से किया जाने वाला कार्य। अब यह जाहिर सी बात है कि सहयोग से किये जाने वाला कार्य सफल होता है। यही कारण है कि सहकारिता ने आजादी के बाद लोगों के जीवन को खुशहाल बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। उन्होंने सहकारिता दिवस की सभी शुभकामनाएं देते हुए कहा कि राज्य सरकार सहकारी संस्थाओं को सशक्त बनाने और उसके जरिये अन्नदाताओं के जीवन में व्यापक परिवर्तन लाने प्रतिबद्ध है। आइये, हम सभी सहकार की भावना को और अधिक सशक्त बनाकर समावेशी और समग्र विकास की दिशा में तेजी से आगे बढ़ें।

Dakhal News

Dakhal News 3 July 2021


bhopal, MP

भोपाल। मप्र के लोक निर्माण कुटीर एवं ग्रामोद्योग मंत्री गोपाल भार्गव ने बुधवार को नई दिल्ली में केन्द्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग, सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम मंत्री नितिन गडकरी से मुलाकात की। इस अवसर पर मंत्री भार्गव ने मध्यप्रदेश शासन की ओर से वर्ष 2021-22 की कार्य-योजना में प्रदेश के 3856 करोड़ रुपये के प्रस्तावों को सम्मिलित करने के लिए उनका आभार व्यक्त किया।   पीडब्ल्यूडी मंत्री गोपाल भार्गव ने भारत सरकार द्वारा प्रदेश में बुधनी से नसरुल्लागंज मार्ग को राष्ट्रीय राजमार्ग 146 बी घोषित किए जाने के पश्चात इस मार्ग की नसरुल्लागंज से संदलपुर तक लंबाई 38 किलोमीटर बढ़ाने तथा बुदनी से बाड़ी तक 55 किलोमीटर लंबाई बढ़ाने की माँग की। इससे दोनों राष्ट्रीय राजमार्गों के बीच बेहतर कनेक्टिविटी हो सकेगी। इन दोनों हिस्सों की कुल लंबाई 93 किलोमीटर है, जिसे राजमार्ग घोषित करने का प्रस्ताव सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय में विचाराधीन है।   मंत्री भार्गव ने मध्यप्रदेश लोक निर्माण विभाग द्वारा सी.आर.आई.एफ. मद के अंतर्गत भेजे गये 4256 करोड़ रुपए के 52 कार्यों के प्रशासकीय स्वीकृति प्रस्तावों को स्वीकृत करने का अनुरोध केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी से किया। उन्होंने मध्यप्रदेश लोक निर्माण विभाग के मजबूतीकरण के 7 कार्य तथा वन टाइम इन्वेस्टमेंट के 11 कार्यों की प्रशासकीय स्वीकृति के लिए भी मंत्री गडकरी से अनुरोध किया। इन कार्यों की प्रशासकीय स्वीकृति के प्रस्ताव सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय को भिजवाए गए हैं।   मंत्री भार्गव ने सीधी सिंगरौली मार्ग खंड एनएच-75 (ई) का ईपीसी मोड पर पुनर्वास एवं उन्नयन कार्य कराए जाने के संबंध में एलओए जारी करने का अनुरोध केंद्रीय मंत्री गडकरी से किया। मंत्रालय की पॉलिसी अनुसार 90 प्रतिशत भूमि की उपलब्धता पर एलओए जारी किया जा सकता है, इस परियोजना में 99% भूमि उपलब्ध है।

Dakhal News

Dakhal News 30 June 2021


bhopal,Chief Minister, inaugurated Kala Panchang

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने संस्कृति विभाग द्वारा प्रकाशित कला पंचांग का बुधवार को अपने निवास पर लोकार्पण किया। इस अवसर पर पर्यटन, संस्कृति एवं अध्यात्म मंत्री उषा ठाकुर और प्रमुख सचिव संस्कृति तथा जनसंपर्क शिव शेखर शुक्ला भी उपस्थित थे।    मंत्री उषा ठाकुर ने मुख्यमंत्री चौहान को 'बुंदेलखंड के भित्ति चित्र' नामक पुस्तक भेंट की। प्रमुख सचिव शिव शेखर शुक्ला ने जानकारी दी कि कला पंचांग में संस्कृति तथा पर्यटन विभाग द्वारा वर्ष के आगामी माहों में संचालित की जाने वाली सभी गतिविधियों को जोड़ा गया है। पंचाग में अप्रैल 2021 से मार्च 2022 तक की गतिविधियों का उल्लेख है।   प्रदेश में प्रतिवर्ष आयोजित होती हैं लगभग दो हजार सांस्कृतिक गतिविधियाँ उल्लेखनीय है कि संस्कृति विभाग सम्पूर्ण प्रदेश में कला और उसके स्वरूपों पर केन्द्रित समारोह, प्रदर्शनी, प्रशिक्षण शिविर, पुरस्कार, परिसंवाद, संगोष्ठी, व्याख्यान, कविता, कहानी, फिल्म, नाटक, साहित्य पठन-पाठन आदि गतिविधियाँ आयोजित करता है। विभाग द्वारा वर्ष में आयोजित ऐसी समस्त गतिविधियों की जानकारी समय पूर्व देने के उद्देश्य से कला पंचांग प्रकाशित किया जाता है। यह प्रयास कला रसिकों, अध्येताओं, विशेषज्ञों, प्रशिक्षुओं, कलाकारों, पत्रकारों, आलोचकों, गणमान्य नागरिकों और इन गतिविधियों में रूचि रखने वालों की सुविधा के लिए है। यह दो से ढाई दशक पुरानी परम्परा है। पूरे वर्ष में अलग-अलग अकादमियाँ और संचालनालय जो गतिविधियाँ करती हैं उनका योग लगभग 1500 से 2000 के मध्य होता है। विभाग द्वारा लगभग 30 नई गतिविधियाँ शामिल की गई हैं। आजादी का अमृत महोत्सव अंतर्गत की जाने वाले गतिविधियों को भी इसमें सम्मिलित किया गया है।   कोरोना की स्थिति में ऑनलाइन होंगे आयोजन कला पंचांग का प्रकाशन इस आशा के साथ किया गया है कि देश कोरोना महामारी के संकट से मुक्त होगा और सांस्कृतिक गतिविधियाँ पूर्ववत आयोजित हो सकेंगी। यदि गतिविधियों को भौतिक रूप से आयोजित नहीं किया जा सकेगा तो कार्यक्रम ऑनलाइन आयोजित करने के प्रयास होंगे।   जनजातीय कलाकारों की पेंटिंग्स से सुसज्जित है कला पंचांग वर्ष 2021-22 के कला पंचांग में मध्यप्रदेश की जनजातियों के प्रकृति से लगाव के चित्रण को प्रकाशित किया गया है। पंचांग के कवर पेज पर कलाबाई श्याम द्वारा करमा नृत्य पर बनाई गई पेंटिंग है। इसके साथ ही भूरी बाई, ननकू सिया श्याम, लाडो बाई, दुर्गाबाई, नर्मदा प्रसाद टेकाम और रामसिंह के चित्रण से पंचांग सुशोभित है। पंचांग के माध्यम से यह संदेश देने का प्रयास किया गया है कि हम अपने आस-पास प्रकृति को पुर्नस्थापित करने का प्रयास करें।   मुख्यमंत्री ने डॉ. गौरी शंकर शर्मा की पुस्तक का विमोचन किया  मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने डॉ. गौरी शंकर शर्मा ''गौरीश'' द्वारा लिखित पुस्तक "जनकसुता सुत शौर्य"  का बुधवार को अपने निवास पर विमोचन किया। पुस्तक में उत्तर रामायण से संबंधित विषय को काव्य स्वरूप में सहज और सरल रूप से प्रस्तुत किया गया है। विमोचन अवसर पर वरिष्ठ साहित्यकार महेश सक्सेना, डॉ. पी.डी. मिश्रा, अनिल अजमेरा और गोकुल सोनी उपस्थित थे।

Dakhal News

Dakhal News 30 June 2021


bhopal, GST made complex ,indirect tax system, simple and transparent,Shivraj

भोपाल। जीएसटी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी के 'एक देश-एक टैक्स' के सपने को पूरा कर रहा है। जीएसटी ने जटिल, अप्रत्यक्ष कर व्यवस्था को एक सरल, पारदर्शी और प्रौद्योगिकी-संचालित कर व्यवस्था में परिष्कृत किया है। प्रक्रियाओं के निरंतर सरलीकरण और दर संरचनाओं के युक्तिकरण के साथ भारत के बाजार अब एकीकृत हो रहे हैं। इसका फायदा आमजन के साथ व्यापार करने वाले वर्ग को भी मिल रहा है। यह बातें मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने बुधवार को सोशल मीडिया के माध्यम से जीएसटी प्रणाली को लागू हुए चार वर्ष पूर्ण होने पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कही।   मुख्यमंत्री चौहान ने सिलसिलेवार ट्वीट करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी के नेतृत्व में देश के करदाताओं को कई तरह की राहतें दी गई हैं। जीएसटी के तहत ज्यादातर वस्तुओं पर 5, 12 या 18 प्रतिशत टैक्स लगता है। केवल कुछ विलासिता की वस्तुओं पर 28 फीसदी टैक्स लगता है। जीएसटी से पहले सभी वस्तुओं पर लगने वाले टैक्स 31 फीसदी तक जाते थे।   मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि जीएसटी जीएसटी ग्राहक के अनुकूल होने के साथ-साथ करदाताओं के अनुकूल भी है। जीएसटी से कई वस्तुओं पर टैक्स कम हुआ है और इससे नागरिकों के जीवन स्तर में सुधार आया है। 20 लाख रुपये तक के वार्षिक कारोबार वाले व्यवसायों को जीएसटी से छूट दी गई थी। अब उस सीमा को बढ़ाकर 40 लाख रुपये (माल के लिए) कर दिया गया है।   उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी के दूरदर्शी नेतृत्व में चार साल पहले जीएसटी प्रणाली लागू की गई थी। यह सबसे महत्वाकांक्षी कराधान सुधारों में से एक था। जीएसटी ने न केवल दर ढांचे को युक्तिसंगत बनाया, बल्कि करदाताओं के लिए अनुपालन में आसानी सुनिश्चित करने के लिए प्रक्रियाओं को भी सरल बनाया।

Dakhal News

Dakhal News 30 June 2021


bhopal, GST made complex ,indirect tax system, simple and transparent,Shivraj

भोपाल। जीएसटी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी के 'एक देश-एक टैक्स' के सपने को पूरा कर रहा है। जीएसटी ने जटिल, अप्रत्यक्ष कर व्यवस्था को एक सरल, पारदर्शी और प्रौद्योगिकी-संचालित कर व्यवस्था में परिष्कृत किया है। प्रक्रियाओं के निरंतर सरलीकरण और दर संरचनाओं के युक्तिकरण के साथ भारत के बाजार अब एकीकृत हो रहे हैं। इसका फायदा आमजन के साथ व्यापार करने वाले वर्ग को भी मिल रहा है। यह बातें मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने बुधवार को सोशल मीडिया के माध्यम से जीएसटी प्रणाली को लागू हुए चार वर्ष पूर्ण होने पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कही।   मुख्यमंत्री चौहान ने सिलसिलेवार ट्वीट करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी के नेतृत्व में देश के करदाताओं को कई तरह की राहतें दी गई हैं। जीएसटी के तहत ज्यादातर वस्तुओं पर 5, 12 या 18 प्रतिशत टैक्स लगता है। केवल कुछ विलासिता की वस्तुओं पर 28 फीसदी टैक्स लगता है। जीएसटी से पहले सभी वस्तुओं पर लगने वाले टैक्स 31 फीसदी तक जाते थे।   मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि जीएसटी जीएसटी ग्राहक के अनुकूल होने के साथ-साथ करदाताओं के अनुकूल भी है। जीएसटी से कई वस्तुओं पर टैक्स कम हुआ है और इससे नागरिकों के जीवन स्तर में सुधार आया है। 20 लाख रुपये तक के वार्षिक कारोबार वाले व्यवसायों को जीएसटी से छूट दी गई थी। अब उस सीमा को बढ़ाकर 40 लाख रुपये (माल के लिए) कर दिया गया है।   उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी के दूरदर्शी नेतृत्व में चार साल पहले जीएसटी प्रणाली लागू की गई थी। यह सबसे महत्वाकांक्षी कराधान सुधारों में से एक था। जीएसटी ने न केवल दर ढांचे को युक्तिसंगत बनाया, बल्कि करदाताओं के लिए अनुपालन में आसानी सुनिश्चित करने के लिए प्रक्रियाओं को भी सरल बनाया।

Dakhal News

Dakhal News 30 June 2021


bhopal,Government officials-employees,second dose done,CM Shivraj

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि उच्च जोखिम वाले समूहों को प्राथमिकता के आधार पर टीके की दोनों डोज़ लगाई जाएँ। जिन शासकीय अधिकारियों-कर्मचारियों ने टीके की प्रथम डोज लगवा ली है और पात्र अवधि के बाद भी यदि उनके द्वारा दूसरी डोज़ नहीं लगवाई गई है, ऐसे अधिकारी-कर्मचारियों पर कार्यवाही की जाएगी। टीकाकरण का अभियान व्यक्ति और समाज की भलाई के लिए है। टीके की दूसरी डोज़ नहीं लगवाना समाज के लिए अपराध के समान हैं।   मुख्यमंत्री चौहान सोमवार को कोविड संक्रमण पर प्रभावी नियंत्रण और टीकाकरण के लिये गठित मंत्री समूह के प्रस्तुतिकरण सत्र को संबोधित कर रहे थे। बैठक में चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग, लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी, पिछड़ा वर्ग एवं अल्पसंख्यक कल्याण राज्य मंत्री रामखेलावन पटेल सहित मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस तथा अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य मोहम्मद सुलेमान उपस्थित थे।   सार्वजनिक स्थलों पर वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट बन सकता है प्रवेश का आधार मुख्यमंत्री ने कहा कि टीके की दूसरी डोज़ के लिए विशेष अभियान संचालित किया जाए। जिन्होंने पहली डोज़ लगवा ली है परंतु दूसरी डोज़ लगवाने में लापरवाही कर रहे हैं, उन्हें चिन्हित कर दूसरी डोज़ लगाई जाए। कोचिंग क्लासेस संचालकों द्वारा शत-प्रतिशत टीकाकरण सुनिश्चित करने पर कोचिंग क्लास के संचालन पर भी विचार किया जा सकता है।    उन्होंने निर्देश दिए कि प्रदेश के सीमावर्ती जिलों में टीकाकरण अभियान पर विशेष ध्यान दिया जाए। साथ ही 45 वर्ष से अधिक आयु वर्ग के व्यक्तियों को प्राथमिकता के आधार पर टीके की पहली डोज़ लगाने के लिए विशेष कैम्प आयोजित किए जाएँ। मुख्यमंत्री ने कहा कि सार्वजनिक स्थलों पर वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट देखने के उपरांत ही प्रवेश देने की व्यवस्था पर भी विचार किया जा सकता है।   नगर पंचायत बुढार और नगर परिषद खेतिया में हुआ शत-प्रतिशत टीकाकरण मंत्री समूह के सम्मुख प्रस्तुतिकरण में जानकारी दी गई कि नगर पंचायत बुढार और नगर परिषद खेतिया में शत-प्रतिशत नागरिकों का पूर्ण टीकाकरण हो चुका है। प्रदेश के 13 जिलों की 66 ग्राम पंचायतों में भी शत-प्रतिशत वैक्सीनेशन हो चुका है। मुख्यमंत्री चौहान ने सिवनी, आगर-मालवा, मुरैना, अनूपपुर, छतरपुर, मंदसौर, खरगोन, टीकमगढ़, भिंड, छिंदवाड़ा, मंडला, बड़वानी, सतना, सीधी, झाबुआ, दमोह और पन्ना में टीकाकरण को गति देने के निर्देश दिए।   प्रभावित न हो बच्चों का सामान्य टीकाकरण मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में कोविड टीकाकरण के साथ बच्चों को लगने वाले 14 प्रकार के टीकाकरण का अभियान भी निरंतर जारी है। बच्चों का यह टीकाकरण प्रभावित नहीं हो, इसे देखते हुए मंगलवार और शुक्रवार को कोविड टीकाकरण नहीं किया जा रहा है।

Dakhal News

Dakhal News 28 June 2021


bhopal, Now injections , save life , made in MP itself, CM Shivraj

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सोमवार को राजधानी भोपाल से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग की माध्यम से जबलपुर में ब्लैक फंगस की दवा 'एम्फोरेवा-B' के उत्पादन का शुभारंभ किया। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि यह गर्व का पल है कि जीवन की रक्षा के जो इंजेक्शन हम बाहर से मंगवाते थे, अब मध्यप्रदेश में ही बनेंगे। ज़रूरत पड़ी तो देश व विदेश में भी इसकी आपूर्ति होगी। मुख्यमंत्री के साथ वीसी में प्रदेश के चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग भी मौजूद रहे।    मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि आज वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग द्वारा जबलपुर में ब्लैक फंगस की दवा 'एम्फोरेवा-B' के उत्पादन का शुभारंभ किया है। उन्होंने कहा कि हमारे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने आत्मनिर्भर भारत का मंत्र दिया, उसके लिए हमने आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश का संकल्प लिया। इस ध्येय की प्राप्ति के लिए हम लगातार रोडमैप बनाकर कार्य कर रहे हैं। बहुत सी ऐसी दवाएं थी, जिनका किसी ने नाम भी नहीं सुना था। लेकिन हमने न सिर्फ इन दवाओं की समुचित व्यवस्था की, बल्कि हम कोविड-19 संक्रमण को नियंत्रित करने में भी सफल हुए।   मुख्यमंत्री ने कहा कि मध्यप्रदेश में आप सबके सहयोग से हम कोरोना की दूसरी लहर को रोकने में सफल हो गये और अब तीसरी लहर की रोकथाम के लिए निरंतर प्रयत्नशील हैं। इसके लिए स्वास्थ्य सुविधाओं को बढ़ाने से लेकर टेस्टिंग और वैक्सीनेशन पर हमारा फोकस है। जब ब्लैक फंगस फैला, तो हमें एम्फोटेरेसिन B के महत्व का पता चला। प्रधानमंत्री जी की मंशा है कि हम सभी सामान बाहर से क्यों मंगवाएँ। अब यह इंजेक्शन मध्यप्रदेश में ही बनेगा।   उन्होंने कहा कि मुझे खुशी इस बात की है कि आपने इंजेक्शन का नाम एम्फोरेवा रखा है, जो माँ रेवा पर है। मैं मैया से प्रार्थना करता हूँ कि वे सभी पर कृपा करें और सभी को स्वस्थ करें। हम विश्वस्तरीय दवाएँ बनाएँ। हमने एक निर्णय लिया है कि हम एक नई फार्मा नीति मध्यप्रदेश में बनाएंगे। इससे दवाएँ मध्यप्रदेश में ही बनेंगी। दवाएँ गुणवत्तायुक्त तो रहेंगी ही, साथ ही कम कीमत पर भी मिलें। मध्यप्रदेश की कोई फैक्ट्री ऐसे संकल्प लेती है तो न सिर्फ आत्म निर्भर मध्यप्रदेश के निर्माण का संकल्प पूरा होता है, बल्कि लोगों को रोज़गार भी मिलता है। मैं इसके लिए आप सभी को बधाई देता हूँ।

Dakhal News

Dakhal News 28 June 2021


bhopal, Now injections , save life , made in MP itself, CM Shivraj

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सोमवार को राजधानी भोपाल से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग की माध्यम से जबलपुर में ब्लैक फंगस की दवा 'एम्फोरेवा-B' के उत्पादन का शुभारंभ किया। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि यह गर्व का पल है कि जीवन की रक्षा के जो इंजेक्शन हम बाहर से मंगवाते थे, अब मध्यप्रदेश में ही बनेंगे। ज़रूरत पड़ी तो देश व विदेश में भी इसकी आपूर्ति होगी। मुख्यमंत्री के साथ वीसी में प्रदेश के चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग भी मौजूद रहे।    मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि आज वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग द्वारा जबलपुर में ब्लैक फंगस की दवा 'एम्फोरेवा-B' के उत्पादन का शुभारंभ किया है। उन्होंने कहा कि हमारे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने आत्मनिर्भर भारत का मंत्र दिया, उसके लिए हमने आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश का संकल्प लिया। इस ध्येय की प्राप्ति के लिए हम लगातार रोडमैप बनाकर कार्य कर रहे हैं। बहुत सी ऐसी दवाएं थी, जिनका किसी ने नाम भी नहीं सुना था। लेकिन हमने न सिर्फ इन दवाओं की समुचित व्यवस्था की, बल्कि हम कोविड-19 संक्रमण को नियंत्रित करने में भी सफल हुए।   मुख्यमंत्री ने कहा कि मध्यप्रदेश में आप सबके सहयोग से हम कोरोना की दूसरी लहर को रोकने में सफल हो गये और अब तीसरी लहर की रोकथाम के लिए निरंतर प्रयत्नशील हैं। इसके लिए स्वास्थ्य सुविधाओं को बढ़ाने से लेकर टेस्टिंग और वैक्सीनेशन पर हमारा फोकस है। जब ब्लैक फंगस फैला, तो हमें एम्फोटेरेसिन B के महत्व का पता चला। प्रधानमंत्री जी की मंशा है कि हम सभी सामान बाहर से क्यों मंगवाएँ। अब यह इंजेक्शन मध्यप्रदेश में ही बनेगा।   उन्होंने कहा कि मुझे खुशी इस बात की है कि आपने इंजेक्शन का नाम एम्फोरेवा रखा है, जो माँ रेवा पर है। मैं मैया से प्रार्थना करता हूँ कि वे सभी पर कृपा करें और सभी को स्वस्थ करें। हम विश्वस्तरीय दवाएँ बनाएँ। हमने एक निर्णय लिया है कि हम एक नई फार्मा नीति मध्यप्रदेश में बनाएंगे। इससे दवाएँ मध्यप्रदेश में ही बनेंगी। दवाएँ गुणवत्तायुक्त तो रहेंगी ही, साथ ही कम कीमत पर भी मिलें। मध्यप्रदेश की कोई फैक्ट्री ऐसे संकल्प लेती है तो न सिर्फ आत्म निर्भर मध्यप्रदेश के निर्माण का संकल्प पूरा होता है, बल्कि लोगों को रोज़गार भी मिलता है। मैं इसके लिए आप सभी को बधाई देता हूँ।

Dakhal News

Dakhal News 28 June 2021


bhopal,Vaccination started,village Dularia ,inspiration of the Prime Minister

भोपाल। मध्यप्रदेश के बैतूल जिले में स्थित ग्राम दुलारिया में लोग अफवाहों के चलते कोरोना का टीका नहीं लगवा रहे थे। प्रधानमंत्री प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को प्रसारित मन की बात कार्यक्रम में गांव के राजेश हिरावे और किशोरीलाल धुर्वे से बात की और ग्रामीणों को सरल शब्दों में समझाते हुए उनसे आग्रह किया कि वे अफवाहों पर ध्यान न दें। वैक्सीन सुरक्षित है, इसे जरूर लगवाएं। प्रधानमंत्री की प्रेरणा से दुलारिया गांव में वैक्सीनेशन शुरू हो चुका है। इस पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को धन्यवाद दिया है।   मुख्यमंत्री चौहान ने रविवार को ट्वीट करते हुए कहा "बैतूल जिले के दुलारिया गांव के लोग वैक्सीन नहीं लगवा रहे थे, अनेक भ्रम और डर उनके मन में था। पीएम नरेन्द्र मोदी जी ने बहुत सरल शब्दों में गांव के राजेश हिराने और किशोरी लाल से बात की और दोनों के माध्यम से अत्यंत सरल शब्दों में, तथ्यों के साथ ग्रामवासियों को समझाया। उनके भ्रम दूर किये और वैक्सीन लगाने के लिए प्रेरित किया।"    मुख्यमंत्री ने कहा कि -"प्रधानमंत्री जी की प्रेरणा से दुलारिया गांव में वैक्सीनेशन शुरू हो गया है। अब तक 126 लोग वैक्सीन लगवा चुके हैं और बाकी भी लगवाने को तैयार हैं। उन्हें भी वैक्सीन लगाई जायेगी। लक्ष्य के प्रति समर्पित और संकल्पित ऐसे प्रधानमंत्री को पाकर देश धन्य हो गया है। इतनी आत्मीयता से, सरल शब्दों में प्रधानमंत्री जी ने प्रेरणा दी और ग्रामीणों को वैक्सीन लगवाने के लिए तैयार किया। यही है सही अर्थों में जन नेता, जो जनता को जन कल्याण के लिए सही रास्ते पर ले जाये। धन्यवाद! मोदी जी।"    

Dakhal News

Dakhal News 27 June 2021


bhopal,Vaccination started,village Dularia ,inspiration of the Prime Minister

भोपाल। मध्यप्रदेश के बैतूल जिले में स्थित ग्राम दुलारिया में लोग अफवाहों के चलते कोरोना का टीका नहीं लगवा रहे थे। प्रधानमंत्री प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को प्रसारित मन की बात कार्यक्रम में गांव के राजेश हिरावे और किशोरीलाल धुर्वे से बात की और ग्रामीणों को सरल शब्दों में समझाते हुए उनसे आग्रह किया कि वे अफवाहों पर ध्यान न दें। वैक्सीन सुरक्षित है, इसे जरूर लगवाएं। प्रधानमंत्री की प्रेरणा से दुलारिया गांव में वैक्सीनेशन शुरू हो चुका है। इस पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को धन्यवाद दिया है।   मुख्यमंत्री चौहान ने रविवार को ट्वीट करते हुए कहा "बैतूल जिले के दुलारिया गांव के लोग वैक्सीन नहीं लगवा रहे थे, अनेक भ्रम और डर उनके मन में था। पीएम नरेन्द्र मोदी जी ने बहुत सरल शब्दों में गांव के राजेश हिराने और किशोरी लाल से बात की और दोनों के माध्यम से अत्यंत सरल शब्दों में, तथ्यों के साथ ग्रामवासियों को समझाया। उनके भ्रम दूर किये और वैक्सीन लगाने के लिए प्रेरित किया।"    मुख्यमंत्री ने कहा कि -"प्रधानमंत्री जी की प्रेरणा से दुलारिया गांव में वैक्सीनेशन शुरू हो गया है। अब तक 126 लोग वैक्सीन लगवा चुके हैं और बाकी भी लगवाने को तैयार हैं। उन्हें भी वैक्सीन लगाई जायेगी। लक्ष्य के प्रति समर्पित और संकल्पित ऐसे प्रधानमंत्री को पाकर देश धन्य हो गया है। इतनी आत्मीयता से, सरल शब्दों में प्रधानमंत्री जी ने प्रेरणा दी और ग्रामीणों को वैक्सीन लगवाने के लिए तैयार किया। यही है सही अर्थों में जन नेता, जो जनता को जन कल्याण के लिए सही रास्ते पर ले जाये। धन्यवाद! मोदी जी।"    

Dakhal News

Dakhal News 27 June 2021


bhopal,Vaccination started,village Dularia ,inspiration of the Prime Minister

भोपाल। मध्यप्रदेश के बैतूल जिले में स्थित ग्राम दुलारिया में लोग अफवाहों के चलते कोरोना का टीका नहीं लगवा रहे थे। प्रधानमंत्री प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को प्रसारित मन की बात कार्यक्रम में गांव के राजेश हिरावे और किशोरीलाल धुर्वे से बात की और ग्रामीणों को सरल शब्दों में समझाते हुए उनसे आग्रह किया कि वे अफवाहों पर ध्यान न दें। वैक्सीन सुरक्षित है, इसे जरूर लगवाएं। प्रधानमंत्री की प्रेरणा से दुलारिया गांव में वैक्सीनेशन शुरू हो चुका है। इस पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को धन्यवाद दिया है।   मुख्यमंत्री चौहान ने रविवार को ट्वीट करते हुए कहा "बैतूल जिले के दुलारिया गांव के लोग वैक्सीन नहीं लगवा रहे थे, अनेक भ्रम और डर उनके मन में था। पीएम नरेन्द्र मोदी जी ने बहुत सरल शब्दों में गांव के राजेश हिराने और किशोरी लाल से बात की और दोनों के माध्यम से अत्यंत सरल शब्दों में, तथ्यों के साथ ग्रामवासियों को समझाया। उनके भ्रम दूर किये और वैक्सीन लगाने के लिए प्रेरित किया।"    मुख्यमंत्री ने कहा कि -"प्रधानमंत्री जी की प्रेरणा से दुलारिया गांव में वैक्सीनेशन शुरू हो गया है। अब तक 126 लोग वैक्सीन लगवा चुके हैं और बाकी भी लगवाने को तैयार हैं। उन्हें भी वैक्सीन लगाई जायेगी। लक्ष्य के प्रति समर्पित और संकल्पित ऐसे प्रधानमंत्री को पाकर देश धन्य हो गया है। इतनी आत्मीयता से, सरल शब्दों में प्रधानमंत्री जी ने प्रेरणा दी और ग्रामीणों को वैक्सीन लगवाने के लिए तैयार किया। यही है सही अर्थों में जन नेता, जो जनता को जन कल्याण के लिए सही रास्ते पर ले जाये। धन्यवाद! मोदी जी।"    

Dakhal News

Dakhal News 27 June 2021


bhopal, Clear , web of eyes, Kamal Nath, who sees rigged,Shivraj

भोपाल। मध्यप्रदेश में वैक्सीनेशन को लेकर राजनीति जारी है। प्रदेश में शनिवार को 9 लाख 86 हजार लोगों को वैक्सीन लगाई गई। इसे लेकर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ पर तंज किया है। उन्होंने ट्वीट कर कहा है कि कोरोना टीकाकरण में धांधली देखने वाले कमलनाथ जी, अपनी आंखों के जाले साफ कर लीजिए, हर दिन 10 लाख टीके लग रहे हैं। मध्यप्रदेश देश में अव्वल।  इससे पहले पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने प्रदेश में 22 जून को टीके न लगने को लेकर प्रदेश सरकार को घेरा था।   21 जून को प्रदेश में वैक्सीनेशन महाअभियान के दौरान लगभग 17 लाख टीके लगाए गए थे, लेकिन उसके अगले दिन टीकों की संख्या कुछ सैकड़ा ही रही थी। इसे लेकर कमलनाथ ने ट्वीट कर कहा था कि मध्यप्रदेश के टीकाकरण अभियान को लेकर बड़ी धांधली सामने आ रही है। एक दिन 17 लाख टीके लगते हैं, जबकि उसके अगले और पिछले दिन कुछ सौ टीके लगते हैं। सरकार को इस बारे में स्थिति स्पष्ट करनी चाहिए, क्योंकि यह करोड़ों लोगों के जीवन का सवाल है। इस पर सरकार की ओर से सफाई देते हुए कहा गया था कि मध्यप्रदेश में मंगलवार और शुक्रवार को बच्चों का टीकाकरण होता है। रविवार को छुट्‌टी रहती है। कोरोना का टीका सिर्फ सोमवार, बुधवार, गुरुवार और शनिवार को ही लगता है। कांग्रेस ने जिस दिन प्रदेश में कुछ सौ टीके लगाने की बात कही है, उस दिन प्रदेश सरकार की तरफ से टीकाकरण का सेशन आयोजित ही नहीं था। कुछ टीके प्राइवेट अस्पतालों द्वारा लगाए गए थे।   शनिवार को मध्यप्रदेश  में 9.86 लाख से ज्यादा लोगों को वैक्सीन लगाई गई। इसके साथ ही प्रदेश में वैक्सीनेशन का आंकड़ा 1.97 करोड़ के पार पहुंच गया है। इससे पहले 21 जून को रिकॉर्ड 17.42 लाख एवं 23 जून को 11.59 लाख लोगों ने वैक्सीन लगवाई थी। शनिवार को हुए वैक्सीनेशन में मध्यप्रदेश में इंदौर फिर अव्वल रहा। यहां कुल 1 लाख 50 हजार 280 लोगों ने वैक्सीन लगवाई। दूसरे नंबर पर राजधानी भोपाल रही। यहां 45 हजार 694 लोगों को वैक्सीन लगाई गई। जबलपुर, ग्वालियर व उज्जैन में वैक्सीनेशन का आंकड़ा ठीक रहा।

Dakhal News

Dakhal News 27 June 2021


bhopal, Clear , web of eyes, Kamal Nath, who sees rigged,Shivraj

भोपाल। मध्यप्रदेश में वैक्सीनेशन को लेकर राजनीति जारी है। प्रदेश में शनिवार को 9 लाख 86 हजार लोगों को वैक्सीन लगाई गई। इसे लेकर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ पर तंज किया है। उन्होंने ट्वीट कर कहा है कि कोरोना टीकाकरण में धांधली देखने वाले कमलनाथ जी, अपनी आंखों के जाले साफ कर लीजिए, हर दिन 10 लाख टीके लग रहे हैं। मध्यप्रदेश देश में अव्वल।  इससे पहले पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने प्रदेश में 22 जून को टीके न लगने को लेकर प्रदेश सरकार को घेरा था।   21 जून को प्रदेश में वैक्सीनेशन महाअभियान के दौरान लगभग 17 लाख टीके लगाए गए थे, लेकिन उसके अगले दिन टीकों की संख्या कुछ सैकड़ा ही रही थी। इसे लेकर कमलनाथ ने ट्वीट कर कहा था कि मध्यप्रदेश के टीकाकरण अभियान को लेकर बड़ी धांधली सामने आ रही है। एक दिन 17 लाख टीके लगते हैं, जबकि उसके अगले और पिछले दिन कुछ सौ टीके लगते हैं। सरकार को इस बारे में स्थिति स्पष्ट करनी चाहिए, क्योंकि यह करोड़ों लोगों के जीवन का सवाल है। इस पर सरकार की ओर से सफाई देते हुए कहा गया था कि मध्यप्रदेश में मंगलवार और शुक्रवार को बच्चों का टीकाकरण होता है। रविवार को छुट्‌टी रहती है। कोरोना का टीका सिर्फ सोमवार, बुधवार, गुरुवार और शनिवार को ही लगता है। कांग्रेस ने जिस दिन प्रदेश में कुछ सौ टीके लगाने की बात कही है, उस दिन प्रदेश सरकार की तरफ से टीकाकरण का सेशन आयोजित ही नहीं था। कुछ टीके प्राइवेट अस्पतालों द्वारा लगाए गए थे।   शनिवार को मध्यप्रदेश  में 9.86 लाख से ज्यादा लोगों को वैक्सीन लगाई गई। इसके साथ ही प्रदेश में वैक्सीनेशन का आंकड़ा 1.97 करोड़ के पार पहुंच गया है। इससे पहले 21 जून को रिकॉर्ड 17.42 लाख एवं 23 जून को 11.59 लाख लोगों ने वैक्सीन लगवाई थी। शनिवार को हुए वैक्सीनेशन में मध्यप्रदेश में इंदौर फिर अव्वल रहा। यहां कुल 1 लाख 50 हजार 280 लोगों ने वैक्सीन लगवाई। दूसरे नंबर पर राजधानी भोपाल रही। यहां 45 हजार 694 लोगों को वैक्सीन लगाई गई। जबलपुर, ग्वालियर व उज्जैन में वैक्सीनेशन का आंकड़ा ठीक रहा।

Dakhal News

Dakhal News 27 June 2021


bhopal, By strangling democracy, the whole country ,was jailed, Shivraj

भोपाल। इंदिरा गांधी जी ने केवल अपनी कुर्सी बचाने के लिए लोकतंत्र का गला घोंटकर पूरे देश को जेलखाना बना दिया था। आज राहुल गांधी और सोनिया जी लोकतांत्रिक मूल्यों की बात करते हैं, तो हंसी आती हैं। यह बातें शुक्रवार को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान आपातकाल की 46वीं बरसी पर भोपाल स्थित भाजपा कार्यालय में आयोजित लोकतंत्र सेनानियों के सम्मान कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कही।   कार्यक्रम में भाजपा प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदत्त शर्मा, प्रदेश प्रभारी मुरलीधर राव, शिव प्रकाश जी, राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय, हितानंद शर्मा, लाल सिंह आर्य एवं अन्य गणमान्य शामिल थे। कार्यक्रम में मुख्यमंत्री चौहान ने लोकतंत्र सेनानियों को सम्मानित कर अपने विचार साझा किये।    उन्होंने कहा कि इंदिरा गांधी जी ने केवल अपनी कुर्सी बचाने के लिए लोकतंत्र का गला घोंटकर पूरे देश को जेलखाना बना दिया था। जो लोग राजनीतिक रूप से असहमत थे, उन्हें जेलों में डाल दिया गया था। न अपील, न वकील, न दलील, सभी मौलिक अधिकार छीन लिये गये थे। आज राहुल गांधी और सोनिया जी लोकतांत्रिक मूल्यों की बात करते हैं, तो हंसी आती हैं।    उन्होंने कहा कि उस दौरान हम यहीं भोपाल में रहकर पढ़ाई कर रहे थे। देर रात पुलिस घर पहुंची और तलाशी ली तो आपातकाल के विरोध में मेरे पास पर्चे और साहित्य मिल गये। पुलिस पकड़कर ले गई। यहीं हबीबगंज थाने में जमकर पिटाई हुई। आज भी जब बादल गरजते और बिजली कड़कती है, तो आपातकाल की याद दिला देते हैं।   मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि अनेक परिवार तबाह और बर्बाद हो गये। बच्चों के भूखे मरने की नौबत आ गई। ऐसे में संघ के कार्यकर्ताओं ने लोगों को आर्थिक मदद पहुंचाने का काम किया। हरसंभव पीड़ितों की सहायता करने का प्रयास किया। लोकतंत्र सेनानियों ने भारत की आत्मा को बचाने के लिए असीम कष्ट और यातनाएं सही थी। लोकतंत्र को कुचलने वालों तुम्हें और तुम्हारे खानदान को देश कभी माफ नहीं करेगा।

Dakhal News

Dakhal News 25 June 2021


bhopal, By strangling democracy, the whole country ,was jailed, Shivraj

भोपाल। इंदिरा गांधी जी ने केवल अपनी कुर्सी बचाने के लिए लोकतंत्र का गला घोंटकर पूरे देश को जेलखाना बना दिया था। आज राहुल गांधी और सोनिया जी लोकतांत्रिक मूल्यों की बात करते हैं, तो हंसी आती हैं। यह बातें शुक्रवार को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान आपातकाल की 46वीं बरसी पर भोपाल स्थित भाजपा कार्यालय में आयोजित लोकतंत्र सेनानियों के सम्मान कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कही।   कार्यक्रम में भाजपा प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदत्त शर्मा, प्रदेश प्रभारी मुरलीधर राव, शिव प्रकाश जी, राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय, हितानंद शर्मा, लाल सिंह आर्य एवं अन्य गणमान्य शामिल थे। कार्यक्रम में मुख्यमंत्री चौहान ने लोकतंत्र सेनानियों को सम्मानित कर अपने विचार साझा किये।    उन्होंने कहा कि इंदिरा गांधी जी ने केवल अपनी कुर्सी बचाने के लिए लोकतंत्र का गला घोंटकर पूरे देश को जेलखाना बना दिया था। जो लोग राजनीतिक रूप से असहमत थे, उन्हें जेलों में डाल दिया गया था। न अपील, न वकील, न दलील, सभी मौलिक अधिकार छीन लिये गये थे। आज राहुल गांधी और सोनिया जी लोकतांत्रिक मूल्यों की बात करते हैं, तो हंसी आती हैं।    उन्होंने कहा कि उस दौरान हम यहीं भोपाल में रहकर पढ़ाई कर रहे थे। देर रात पुलिस घर पहुंची और तलाशी ली तो आपातकाल के विरोध में मेरे पास पर्चे और साहित्य मिल गये। पुलिस पकड़कर ले गई। यहीं हबीबगंज थाने में जमकर पिटाई हुई। आज भी जब बादल गरजते और बिजली कड़कती है, तो आपातकाल की याद दिला देते हैं।   मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि अनेक परिवार तबाह और बर्बाद हो गये। बच्चों के भूखे मरने की नौबत आ गई। ऐसे में संघ के कार्यकर्ताओं ने लोगों को आर्थिक मदद पहुंचाने का काम किया। हरसंभव पीड़ितों की सहायता करने का प्रयास किया। लोकतंत्र सेनानियों ने भारत की आत्मा को बचाने के लिए असीम कष्ट और यातनाएं सही थी। लोकतंत्र को कुचलने वालों तुम्हें और तुम्हारे खानदान को देश कभी माफ नहीं करेगा।

Dakhal News

Dakhal News 25 June 2021


bhopal,Our government

भोपाल। राजधानी भोपाल में आज शुक्रवार को भी भाजपा पदाधिकारियों की अहम बैठक जारी है। शिवप्रकाश और मुरलीधर की अध्यक्षता में सत्ता और संगठन के बीच बैठक जारी है। इस बैठक में संगठन में समन्वय और कामकाज को लेकर चर्चा हो रही है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान बैठक में शामिल होने भाजपा कार्यालय पहुंचे।   यहां सीएम शिवराज ने मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जो जनकल्याण के लिए काम कर रहे है। हमारी सरकार की कोशिश है कि उसे हम नीचे तक क्रियान्वित करें। सभी योजनाओं को जमीन पर उतारना है। मन गौरवान्वित होता है जब राष्ट्रीय अध्यक्ष तारीफ करते है।   सीएम शिवराज ने कहा कि मुझे बताते हुए संतोष है कि कोविड 19 नियंत्रण, आत्मनिर्भर भारत के लिए आत्मनिर्भर मप्र का निर्माण, गरीब कल्याण की योजनाएँ, माताओं-बहनों का उत्थान या मप्र वैक्सीनेशन महाअभियान हो, हमारी सरकार ने इनका लाभ जनता को देने में कोई कसर नहीं छोड़ी है। उन्होंने कहा कि मन गर्व से भी भरता है और हमें संतोष भी मिलता है, जब हमारे राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री जेपी नड्डा जी मध्यप्रदेश के इन कदमों की सराहना करते हैं। हमारा लक्ष्य है गौरवशाली, वैभवशाली और शक्तिशाली भारत के निर्माण के लिए समृद्ध और विकसित मध्यप्रदेश का निर्माण करें और जनता का कल्याण करें।

Dakhal News

Dakhal News 25 June 2021


bhopal,Our government

भोपाल। राजधानी भोपाल में आज शुक्रवार को भी भाजपा पदाधिकारियों की अहम बैठक जारी है। शिवप्रकाश और मुरलीधर की अध्यक्षता में सत्ता और संगठन के बीच बैठक जारी है। इस बैठक में संगठन में समन्वय और कामकाज को लेकर चर्चा हो रही है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान बैठक में शामिल होने भाजपा कार्यालय पहुंचे।   यहां सीएम शिवराज ने मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जो जनकल्याण के लिए काम कर रहे है। हमारी सरकार की कोशिश है कि उसे हम नीचे तक क्रियान्वित करें। सभी योजनाओं को जमीन पर उतारना है। मन गौरवान्वित होता है जब राष्ट्रीय अध्यक्ष तारीफ करते है।   सीएम शिवराज ने कहा कि मुझे बताते हुए संतोष है कि कोविड 19 नियंत्रण, आत्मनिर्भर भारत के लिए आत्मनिर्भर मप्र का निर्माण, गरीब कल्याण की योजनाएँ, माताओं-बहनों का उत्थान या मप्र वैक्सीनेशन महाअभियान हो, हमारी सरकार ने इनका लाभ जनता को देने में कोई कसर नहीं छोड़ी है। उन्होंने कहा कि मन गर्व से भी भरता है और हमें संतोष भी मिलता है, जब हमारे राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री जेपी नड्डा जी मध्यप्रदेश के इन कदमों की सराहना करते हैं। हमारा लक्ष्य है गौरवशाली, वैभवशाली और शक्तिशाली भारत के निर्माण के लिए समृद्ध और विकसित मध्यप्रदेश का निर्माण करें और जनता का कल्याण करें।

Dakhal News

Dakhal News 25 June 2021


bhopal,Vaccination Maha Abhiyan, 35 lakh dosages, taken so far in MP

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश में 21 जून से चलाए जा रहे टीकाकरण महाअभियान के अंतर्गत अब तक लगभग 35 लाख व्यक्तियों को कोरोना वैक्सीन लगायी जा चुकी है। हमें मध्यप्रदेश में शीघ्र ही पूर्ण टीकाकरण के लक्ष्य को पूरा कर हर व्यक्ति को कोरोना संक्रमण से सुरक्षित करना है। केन्द्र सरकार से जैसे-जैसे डोजेज मिलते जायेंगे, टीकाकरण कार्य चलता रहेगा।   मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान गुरुवार को वीडियो कॉफ्रेंसिंग के माध्यम से प्रदेश में कोरोना की स्थिति एवं वैक्सीनेशन कार्य की समीक्षा कर रहे थे। बैठक में सभी संबंधित उपस्थित थे। मुख्यमंत्री ने कहा कि वैक्सीन कोरोना का सुरक्षा कवच है। 18 से अधिक उम्र वाले सभी व्यक्ति वैक्सीनेशन अवश्य करवायें। प्रदेश में वैक्सीन के पर्याप्त डोजेज उपलब्ध हैं।   कोरोना संक्रमण में प्रदेश देश में  31वें स्थान पर मुख्यमंत्री चौहान ने समीक्षा बैठक में कहा कि प्रदेश में कोरोना संक्रमण लगभग समाप्त हो गया है। अब कोरोना के केवल 62 नए मामले आये हैं और 1280 एक्टिव मरीज हैं। कोरोना संक्रमण की दृष्टि से देश के सभी राज्यों और केन्द्र शासित प्रदेशों में मध्यप्रदेश 31वें स्थान पर है। उन्होंने कहा कि असावधानी बिलकुल नहीं करनी है। कोविड अनुरूप व्यवहार करना है और कोरोना प्रोटोकाल का पालन करना है। थोड़ी सी असावधानी से कोरोना का संक्रमण फिर फैल सकता है।   आज 6 लाख से अधिक डोजेज लगाए गए प्रदेश में वैक्सीनेशन महाअभियान के अंतर्गत गुरुवार सायं 6 बजे तक 6 लाख 6 हजार व्यक्तियों को कोरोना का वैक्सीन लगाया गया। कोरोना वैक्सीनेशन महाअभियान में पहले दिन 21 जून को 17 लाख 42 हजार तथा दूसरे दिन 23 जून को 11 लाख 43 हजार व्यक्तियों को वैक्सीन के डोजेज लगाये गये थे। गुरुवार को तीसरा दिन है।   साप्ताहिक पॉजिटिविटी रेट 0.1% बैठक में बताया गया कि प्रदेश में साप्ताहिक पॉजिटिविटी रेट 0.1% है और आज की पॉजिटिविटी रेट भी 0.1% है। कोरोना का रिकवरी रेट 98.7% है। पिछले 24 घंटों में कोरोना के 255 मरीज स्वस्थ हुए है।   31 जिलों में कोई भी नया प्रकरण नहीं  प्रदेश के 31 जिलों में कोरोना का कोई भी नया प्रकरण सामने नहीं आया है। प्रदेश के 2 जिलों इंदौर एवं भोपाल में क्रमश: 10 एवं 15 नए प्रकरण आये हैं। 19 जिलों रायसेन, सागर, दमोह, ग्वालियर, धार, हरदा, होशंगबाद, खरगोन, मंदसौर, नरसिंहपुर, राजगढ़, शाजापुर, आगर-मालवा, बड़वानी, बैतूल, छतरपुर, मुरैना, सिवनी और उज्जैन जिलों में कोरोना के एक से चार तक नए प्रकरण आये हैं।   तीन जिले पूर्ण रूप से कोरोना मुक्त प्रदेश के तीन जिले अलीराजपुर, बुरहानपुर और खंडवा पूर्ण रूप से कोरोना मुक्त हो गये हैं। यहाँ न तो कोई नया प्रकरण आया है और न ही कोई एक्टिव प्रकरण है।   584 मरीज अस्पतालों में उपचाररत वर्तमान में प्रदेश में कोरोना के 584 मरीज अस्पतालों में उपचार प्राप्त कर रहे हैं। इनमें से 322 मरीज आईसीयू में, 204 आइसोलेशन बेड्स पर और 122 मरीज सामान्य बिस्तरों पर हैं। होम आइसोलेशन में 632 मरीज हैं।

Dakhal News

Dakhal News 24 June 2021


bhopal,Now JP Nadda , started having dreams , Kamal Nath,Sajjan Singh Verma

भोपाल। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व कैबिनेट मंत्री सज्जन सिंह वर्मा ने भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा द्वारा कार्यसमिति की बैठक में पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ पर राजनीतिक हमले के जवाब में तीखा पलटवार किया है।   वर्मा ने गुरुवार को सोशल मीडिया पर जारी बयान के माध्यम से कहा कि नड्डा जी जिस सरकार के भरोसे आप विकास पुरुष कमलनाथ पर हमला कर रहे हैं उसकी जमीन ही भ्रष्टाचार से उगाए गए काले धन से खरीदे हुए विधायकों पर टिकी है, धनादेश के खंजर से जनादेश की हत्या करने वालों को अपना चेहरा आईने में देखना चाहिए। उन्होंने कहा कि पहले तो सिर्फ शिवराज सिंह चौहान और ज्योतिरादित्य सिंधिया को कमलनाथ जी के सपने आते थे लेकिन अब भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा को भी कमलनाथ जी के सपने आने लगे।   पूर्व मंत्री ने कहा कि नड्डा जी को शिवराज के पिछले 15 वर्षों का हिसाब किताब देखना चाहिए। किस तरह मध्यप्रदेश में देश का सबसे बड़ा व्यापम घोटाला हुआ और उससे भी बड़ा एक और घोटाला कोरोना के नाम पर मध्यप्रदेश में हुआ है, शिवराज ने कोरोना के इस संक्रमण काल में हर तरफ भ्रष्टाचार किया है।    उन्होंने कहा कि प्रदेश की और देश की जनता को साफ दिखा है कि किस तरह भाजपा की सरकारें पूरी तरह नाकाम रही और झूठ बोलकर जनता को गुमराह करती रही। अब आने वाले चुनावों में भाजपा को अपनी जमीन खसकती हुई दिख रही है इसलिए विपक्ष के नेताओं पर बेबुनियाद बयान बाजी और आरोप-प्रत्यारोप कर रही है। कोरोना के समय जो जिम्मेदारियां सरकार को निभाना थी उसमें वह पूरी तरह फेल हुई और इस बात से जनता का ध्यान हटाने के लिए बेबुनियाद बयान बाजी कर रहे हैं भाजपा के नेता गण। निश्चित तौर पर प्रदेश की जनता आने वाले समय में यह बता देगी कि उन्हें दोगली सरकार नहीं चाहिए।

Dakhal News

Dakhal News 24 June 2021


bhopal,Congress created , record of deception, building records , JP Nadda

भोपाल। मध्यप्रदेश में बीते 15 सालों में तीन बार हमारी सरकारें रही हैं। इस समय फिर हमारी सरकार है। इस दौरान प्रदेश ने काफी तरक्की की। बीच में डेढ़ साल का समय ऐसा आया, जब यहां कांग्रेस की सरकार रही। इस 15 महीने की कांग्रेस सरकार ने लोगों को भाजपा और कांग्रेस की सरकारों का अंतर समझा दिया। वसूली, भ्रष्टाचार, ट्रांसफर के रिकॉर्ड बना दिये, मिशन को कमीशन में बदल दिया गया। जब तक कोई दक्षिणा न चढ़ाए, प्रदेश में काम नहीं कर सकता था। उस सरकार ने हर किसी को धोखा दिया, लेकिन हमारे जैसे विचारों वाले लोग साथ आए और आज फिर मध्यप्रदेश में हमारी सरकार है, जिसने प्रदेश को कई मामलों में देश का नंबर वन राज्य बना दिया, सेवा और विकास के कीर्तिमान बना रही है। पार्टी के कार्यकर्ताओं को यह बात जनता तक पहुंचानी चाहिए।    यह बातें गुरुवार को भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने प्रदेश कार्यसमिति की बैठक का वर्चुअल शुभारंभ करते हुए कही। बैठक में केंद्रीय मंत्री थावरचंद गहलोत, नरेंद्रसिंह तोमर, प्रहलाद पटेल, राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय एवं वरिष्ठ नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया केंद्रीय कार्यालय में उपस्थित थे।    केन्द्रीय मंत्री तोमर ने चंदेरी का दुपट्टा भेंटकर नड्डा का स्वागत किया एवं कैलाश विजयवर्गीय ने उन्हें स्मृति चिन्ह भेंट किया। राष्ट्रीय सह संगठन मंत्री शिवप्रकाश जी, प्रदेश प्रभारी मुरलीधर राव, मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान, प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदत्त शर्मा, केंद्रीय मंत्री फग्गनसिंह कुलस्ते, प्रदेश संगठन महामंत्री सुहास भगत, सह संगठन महामंत्री हितानंद प्रदेश कार्यालय में उपस्थित थे।    भाजपा ने बनाया मध्यप्रदेश को नंबर-1 राष्ट्रीय अध्यक्ष नड्डा ने बैठक को संबोधित करते हुए कहा कि देश में कई लोग किसान नेता होने का दम भरते हैं, लेकिन इन्होंने किसानों के लिए कुछ नहीं किया। देश में अगर कोई किसानों का सबसे बड़ा हितैषी है तो वह प्रधानमंत्री मोदी जी हैं और किसान हित के निर्णयों को लागू करने वाला कोई मुख्यमंत्री है तो वह शिवराजसिंह जी हैं। मध्यप्रदेश आज समर्थन मूल्य पर खरीदी के मामले में देश में नंबर-1 राज्य है। प्रदेश सरकार ने गेहूं की रिकॉर्ड खरीदी की है और मध्यप्रदेश पंजाब को पीछे छोड़कर ऑलटाइम नंबर-1 बन गया है। सरकार ने किसान कल्याण पर 90 हजार करोड़ की राशि खर्च की है। इसके अलावा डीबीटी यानी सीधे खातों में राशि पहुंचाने के मामले में मध्यप्रदेश नंबर-1 राज्य है। इनके अलावा सड़क निर्माण की गुणवत्ता और जन आरोग्य योजना के कॉर्ड जनरेशन में भी प्रदेश नंबर-1 है।    उन्होंने कहा कि कांग्रेस के एक प्रधानमंत्री कहते थे कि दिल्ली से एक रुपया चलता है, तो हितग्राही तक 16 पैसे पहुंचते हैं। लेकिन मोदी जी ने आधार को आधार दिया और जो आधार का विरोध करते थे, उन्हें बेआधार कर दिया। अब पूरा पैसा खातों में पहुंचता है। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश की सरकार ने 50 लाख स्ट्रीट वेंडर्स को आर्थिक सहारा दिया है। एमएसएमई से 45 हजार लोगों को जोड़ा गया है। प्रदेश की भाजपा सरकार जिन परिवारों का कोविड संकट में नुकसान हुआ है, उन्हें आर्थिक मदद दे रही है। बेसहारा बच्चों को पेंशन और फ्री एजुकेशन, उपचार दे रही है। हमारी सरकार मुसीबत के समय भी काम करती है, इस बात को कार्यकर्ता जनता तक पहुंचाएं।    इतना पतन हुआ कि देश की आलोचना करने लगी कांग्रेस नड्डा ने कहा कि कांग्रेस का इतना पतन हो चुका है कि वह भाजपा और मोदी जी की आलोचना करते-करते देश की आलोचना करने लगी है। कमलनाथ कहते हैं कि देश महान नहीं बदनाम है। दिग्विजयसिंह क्लब हाउस चैट में अनुच्छेद 370 और 35 ए को लेकर सवाल उठाते हैं। मैं इनसे कहना चाहता हूं कि जिस काम को आप लोग 70 सालों में नहीं कर सके, उसे मोदी जी ने कर दिखाया है। आज कश्मीर 370 और 35 ए से मुक्त है। उन्होंने कहा कि हम 25 जून को आपातकाल विरोधी दिवस मना रहे हैं। आपातकाल में कांग्रेस की सरकार ने 1.25 लाख लोगों को 22 महीनों के लिए जेलों में ठूंस दिया था, जिनमें से 75 हजार लोग जनसंघ से संबंधित थे। सिर्फ आपातकाल ही नहीं, लोकतंत्र और लोकतांत्रिक संस्थाओं का विरोध कांग्रेस हमेशा करती रही है। उन्होंने कहा कि यह कैसी विडंबना है कि प्रजातंत्र का गला घोंटने वाले लोग आज प्रजातंत्र की दुहाई दे रहे हैं।    झूठ बोलना, सवाल उठाना, भ्रम फैलाना कांग्रेस की आदत भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि बाधा डालना, भ्रम फैलाना कांग्रेस की आदत बन गई है। प्रधानमंत्री मोदी जी ने जब कोरोना से सुरक्षा के लिए देश में लॉकडाउन लगाया, तो पूछने लगे कि क्यों लगाया, हटा दिया तो पूछने लगे क्यों हटाया? कोरोना वैक्सीन को लेकर इन्होंने भ्रम फैलाया। वैक्सीन पर सवाल उठाने वालों ने हमारे वैज्ञानिकों के मनोबल को तोड़ने का प्रयास किया।    उन्होंने कहा कि हमारा वैक्सीनेशन प्रोग्राम दुनिया का लार्जेस्ट एंड फास्टेस्ट प्रोग्राम है। सारी दुनिया ने देखा है कि मोदी जी ने कोरोना संकट से मुकाबले में कोई कसर नहीं छोड़ी। मोदी सरकार पर सवाल उठाने वालों को यह जान लेना चाहिए कि स्मॉल पॉक्स और चिकन पॉक्स की वैक्सीन हमारे देश में आने में 15 साल लग गए थे। पोलियो की वैक्सीन आने में सालों लग गए थे। मोदी सरकार ने अप्रैल 2020 में टॉस्क फोर्स का गठन किया और सिर्फ 9 महीनों में देश में दो कंपिनयां वैक्सीन बनाने लगी थीं।    उन्होंने कहा कि सरकार ने वैक्सीनेशन के लिए 35 हजार करोड़ का बजट अलग से रखा है और दिसम्बर तक देश में 19 कंपनियां 57 करोड़ डोज बनाने लगेंगी। पहले देश में रोजाना सिर्फ 1500 टेस्ट होते थे, जिन्हें मोदी सरकार ने बढ़ाकर 25 लाख तक पहुंचाया। देश में सिर्फ एक लैब थी, अब 2500 हैं। 81000 आईसीयू बैड उपलब्ध हैं। मोदी सरकार ने ऑक्सीजन के उत्पादन को 300 मीट्रिक टन से बढ़ाकर 9446 टन तक पहुंचाया और वायुसेना के विमानों ने 1400 उड़ानें भरकर ऑक्सीजन की आपूर्ति की है ।

Dakhal News

Dakhal News 24 June 2021


bhopal,Congress created , record of deception, building records , JP Nadda

भोपाल। मध्यप्रदेश में बीते 15 सालों में तीन बार हमारी सरकारें रही हैं। इस समय फिर हमारी सरकार है। इस दौरान प्रदेश ने काफी तरक्की की। बीच में डेढ़ साल का समय ऐसा आया, जब यहां कांग्रेस की सरकार रही। इस 15 महीने की कांग्रेस सरकार ने लोगों को भाजपा और कांग्रेस की सरकारों का अंतर समझा दिया। वसूली, भ्रष्टाचार, ट्रांसफर के रिकॉर्ड बना दिये, मिशन को कमीशन में बदल दिया गया। जब तक कोई दक्षिणा न चढ़ाए, प्रदेश में काम नहीं कर सकता था। उस सरकार ने हर किसी को धोखा दिया, लेकिन हमारे जैसे विचारों वाले लोग साथ आए और आज फिर मध्यप्रदेश में हमारी सरकार है, जिसने प्रदेश को कई मामलों में देश का नंबर वन राज्य बना दिया, सेवा और विकास के कीर्तिमान बना रही है। पार्टी के कार्यकर्ताओं को यह बात जनता तक पहुंचानी चाहिए।    यह बातें गुरुवार को भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने प्रदेश कार्यसमिति की बैठक का वर्चुअल शुभारंभ करते हुए कही। बैठक में केंद्रीय मंत्री थावरचंद गहलोत, नरेंद्रसिंह तोमर, प्रहलाद पटेल, राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय एवं वरिष्ठ नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया केंद्रीय कार्यालय में उपस्थित थे।    केन्द्रीय मंत्री तोमर ने चंदेरी का दुपट्टा भेंटकर नड्डा का स्वागत किया एवं कैलाश विजयवर्गीय ने उन्हें स्मृति चिन्ह भेंट किया। राष्ट्रीय सह संगठन मंत्री शिवप्रकाश जी, प्रदेश प्रभारी मुरलीधर राव, मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान, प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदत्त शर्मा, केंद्रीय मंत्री फग्गनसिंह कुलस्ते, प्रदेश संगठन महामंत्री सुहास भगत, सह संगठन महामंत्री हितानंद प्रदेश कार्यालय में उपस्थित थे।    भाजपा ने बनाया मध्यप्रदेश को नंबर-1 राष्ट्रीय अध्यक्ष नड्डा ने बैठक को संबोधित करते हुए कहा कि देश में कई लोग किसान नेता होने का दम भरते हैं, लेकिन इन्होंने किसानों के लिए कुछ नहीं किया। देश में अगर कोई किसानों का सबसे बड़ा हितैषी है तो वह प्रधानमंत्री मोदी जी हैं और किसान हित के निर्णयों को लागू करने वाला कोई मुख्यमंत्री है तो वह शिवराजसिंह जी हैं। मध्यप्रदेश आज समर्थन मूल्य पर खरीदी के मामले में देश में नंबर-1 राज्य है। प्रदेश सरकार ने गेहूं की रिकॉर्ड खरीदी की है और मध्यप्रदेश पंजाब को पीछे छोड़कर ऑलटाइम नंबर-1 बन गया है। सरकार ने किसान कल्याण पर 90 हजार करोड़ की राशि खर्च की है। इसके अलावा डीबीटी यानी सीधे खातों में राशि पहुंचाने के मामले में मध्यप्रदेश नंबर-1 राज्य है। इनके अलावा सड़क निर्माण की गुणवत्ता और जन आरोग्य योजना के कॉर्ड जनरेशन में भी प्रदेश नंबर-1 है।    उन्होंने कहा कि कांग्रेस के एक प्रधानमंत्री कहते थे कि दिल्ली से एक रुपया चलता है, तो हितग्राही तक 16 पैसे पहुंचते हैं। लेकिन मोदी जी ने आधार को आधार दिया और जो आधार का विरोध करते थे, उन्हें बेआधार कर दिया। अब पूरा पैसा खातों में पहुंचता है। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश की सरकार ने 50 लाख स्ट्रीट वेंडर्स को आर्थिक सहारा दिया है। एमएसएमई से 45 हजार लोगों को जोड़ा गया है। प्रदेश की भाजपा सरकार जिन परिवारों का कोविड संकट में नुकसान हुआ है, उन्हें आर्थिक मदद दे रही है। बेसहारा बच्चों को पेंशन और फ्री एजुकेशन, उपचार दे रही है। हमारी सरकार मुसीबत के समय भी काम करती है, इस बात को कार्यकर्ता जनता तक पहुंचाएं।    इतना पतन हुआ कि देश की आलोचना करने लगी कांग्रेस नड्डा ने कहा कि कांग्रेस का इतना पतन हो चुका है कि वह भाजपा और मोदी जी की आलोचना करते-करते देश की आलोचना करने लगी है। कमलनाथ कहते हैं कि देश महान नहीं बदनाम है। दिग्विजयसिंह क्लब हाउस चैट में अनुच्छेद 370 और 35 ए को लेकर सवाल उठाते हैं। मैं इनसे कहना चाहता हूं कि जिस काम को आप लोग 70 सालों में नहीं कर सके, उसे मोदी जी ने कर दिखाया है। आज कश्मीर 370 और 35 ए से मुक्त है। उन्होंने कहा कि हम 25 जून को आपातकाल विरोधी दिवस मना रहे हैं। आपातकाल में कांग्रेस की सरकार ने 1.25 लाख लोगों को 22 महीनों के लिए जेलों में ठूंस दिया था, जिनमें से 75 हजार लोग जनसंघ से संबंधित थे। सिर्फ आपातकाल ही नहीं, लोकतंत्र और लोकतांत्रिक संस्थाओं का विरोध कांग्रेस हमेशा करती रही है। उन्होंने कहा कि यह कैसी विडंबना है कि प्रजातंत्र का गला घोंटने वाले लोग आज प्रजातंत्र की दुहाई दे रहे हैं।    झूठ बोलना, सवाल उठाना, भ्रम फैलाना कांग्रेस की आदत भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि बाधा डालना, भ्रम फैलाना कांग्रेस की आदत बन गई है। प्रधानमंत्री मोदी जी ने जब कोरोना से सुरक्षा के लिए देश में लॉकडाउन लगाया, तो पूछने लगे कि क्यों लगाया, हटा दिया तो पूछने लगे क्यों हटाया? कोरोना वैक्सीन को लेकर इन्होंने भ्रम फैलाया। वैक्सीन पर सवाल उठाने वालों ने हमारे वैज्ञानिकों के मनोबल को तोड़ने का प्रयास किया।    उन्होंने कहा कि हमारा वैक्सीनेशन प्रोग्राम दुनिया का लार्जेस्ट एंड फास्टेस्ट प्रोग्राम है। सारी दुनिया ने देखा है कि मोदी जी ने कोरोना संकट से मुकाबले में कोई कसर नहीं छोड़ी। मोदी सरकार पर सवाल उठाने वालों को यह जान लेना चाहिए कि स्मॉल पॉक्स और चिकन पॉक्स की वैक्सीन हमारे देश में आने में 15 साल लग गए थे। पोलियो की वैक्सीन आने में सालों लग गए थे। मोदी सरकार ने अप्रैल 2020 में टॉस्क फोर्स का गठन किया और सिर्फ 9 महीनों में देश में दो कंपिनयां वैक्सीन बनाने लगी थीं।    उन्होंने कहा कि सरकार ने वैक्सीनेशन के लिए 35 हजार करोड़ का बजट अलग से रखा है और दिसम्बर तक देश में 19 कंपनियां 57 करोड़ डोज बनाने लगेंगी। पहले देश में रोजाना सिर्फ 1500 टेस्ट होते थे, जिन्हें मोदी सरकार ने बढ़ाकर 25 लाख तक पहुंचाया। देश में सिर्फ एक लैब थी, अब 2500 हैं। 81000 आईसीयू बैड उपलब्ध हैं। मोदी सरकार ने ऑक्सीजन के उत्पादन को 300 मीट्रिक टन से बढ़ाकर 9446 टन तक पहुंचाया और वायुसेना के विमानों ने 1400 उड़ानें भरकर ऑक्सीजन की आपूर्ति की है ।

Dakhal News

Dakhal News 24 June 2021


bhopal, Narottam

भोपाल। मध्यप्रदेश के गृह एवं जेल मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कांग्रेस पर बड़ा हमला बोला है। मप्र में वैक्सीनेशन अभियान पर कांग्रेस नेताओं के बयानों पर पलटवार करते हुए मंत्री मिश्रा ने कहा है कि मप्र का नाम देश में हो जाएगा तो कांग्रेस को दुख तो होगा आलोचना करने की आदत जिसे हो जाती है वो जाती नहीं है।   मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने बुधवार को मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि वैक्सीनेशन महाअभियान में मध्यप्रदेश ने कीर्तिमान रच कर देश में नाम कर लिया है, जाहिर है इससे कांग्रेस को दिक्कत हो रही है। आलोचना करना तो कांग्रेस की आदत में शुमार है, जो वह कर भी रही है। कोरोनाकाल में राहुल जी समेत पूरी कांग्रेस जनसेवा या मानवता के कार्य में कहीं नहीं दिखी।   इस दौरान उन्होंने दिग्विजय सिंह के ट्वीट पर कहा कि इस देश मे हमेशा वो विषय ढूंढते हैं, जिससे साम्प्रदायिक माहौल बिगड़े। जम्मू कश्मीर में चल रही सियासत पर मंत्री मिश्रा ने कहा कि महबूबा मुफ्ती और फारूख अब्दुल्ला दोनों ही वही भाषा बोल रहे हैं, जो पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान बोल रहे हैं। अब तक जम्मू कश्मीर में देश विरोधी भाषा बोलकर आतंक के दम पर सत्ता में काबिज होने वाले एक बार जनता के बीच जाकर दिखाएं,सच्चाई समझ में आ जाएगी।   डेल्टा+ वैरिएंट को लेकर प्रदेश सरकार अलर्ट मोड परगृह मंत्री मिश्रा ने प्रदेश की कोरोना स्थिति पर कहा कि प्रदेश में कोविड 19 की स्थिति में लगातार सुधार हो रहा है। पिछले 24 घंटे में 275 मरीज स्वस्थ हुए हैं,जबकि नए केस सिर्फ 84 आए हैं। संक्रमण दर 0.12 फीसदी और रिकवरी रेट 98.7 फीसदी है। प्रदेश में कल 65,869 टेस्ट हुए हैं। तीसरी लहर और डेल्टा+ वैरिएंट को लेकर प्रदेश सरकार अलर्ट मोड पर है।

Dakhal News

Dakhal News 23 June 2021


bhopal, BJP government, fulfilling the resolve ,Dr. Shyama Prasad Mukherjee

भोपाल। हमारे श्रद्धेय डॉ. श्यामाप्रसाद मुखर्जी जी ने जो संकल्प लिया था और जिस संकल्प को लेकर भारतीय जनसंघ की स्थापना हुई थी, आज वो संकल्प भारतीय जनता पार्टी की सरकार देश में पूरा कर रही है। आज भारत एक शक्तिशाली राष्ट्र के रूप में पूरी दुनिया के सामने सीना तानकर खड़ा है। कई मामलों में दुनिया के मार्गदर्शक के रूप में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी के नेतृत्व में लगातार देश आगे बढ़ रहा है।   यह बातें मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बुधवार को श्रद्धेय डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी जी के बलिदान दिवस पर भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश कार्यालय में आयोजित कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कही। इससे पहले उन्होंने डॉ. मुखर्जी के चरणों में श्रद्धांजलि अर्पित की।   मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि मैं संगठन के साथियों का अभिनंदन करता हूं कि वे श्रद्धेय डॉ. श्यामाप्रसाद मुखर्जी, ठाकरे जी, खंडेलवाल जी, नानाजी, पटवा जी, जोशी जी, सुषमा जी, जिन्होंने भारतीय जनसंघ और भारतीय जनता पार्टी को अपने पसीने से सींचा था, उनकी स्मृति में पौधे लगा रहे हैं। साथ ही हमारे वो भाई-बहन जो कोविड-19 के कारण हमें छोड़कर चले गये, उनकी स्मृति में भी पौधरोपण किया जा रहा है। मुझे लगता है कि आज के दौर में यही सबसे बड़ी श्रद्धांजलि है।   उन्होंने कहा कि चुनौती के समय में 'सेवा ही संगठन है' एक चमत्कारी कार्यक्रम था। मध्यप्रदेश में भी भारतीय जनता पार्टी के साथी कार्यकर्ताओं ने अद्भुत काम किया। एमपी वैक्सीनेशन महाअभियान में भी जो काम हुआ है, उसके लिए मैं आपका और प्रदेशवासियों का हृदय से अभिनंदन करता हूं। वैक्सीनेशन महाअभियान में हमने लक्ष्य रखा 10 लाख का और 16 लाख से अधिक लोगों का रिकॉर्ड वैक्सीनेशन हो गया। वैक्सीन ही कोरोना का सुरक्षा चक्र है। इसलिए आग्रह करता हूं कि सभी वैक्सीनेशन अवश्य करवायें।

Dakhal News

Dakhal News 23 June 2021


bhopal, BJP government, fulfilling the resolve ,Dr. Shyama Prasad Mukherjee

भोपाल। हमारे श्रद्धेय डॉ. श्यामाप्रसाद मुखर्जी जी ने जो संकल्प लिया था और जिस संकल्प को लेकर भारतीय जनसंघ की स्थापना हुई थी, आज वो संकल्प भारतीय जनता पार्टी की सरकार देश में पूरा कर रही है। आज भारत एक शक्तिशाली राष्ट्र के रूप में पूरी दुनिया के सामने सीना तानकर खड़ा है। कई मामलों में दुनिया के मार्गदर्शक के रूप में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी के नेतृत्व में लगातार देश आगे बढ़ रहा है।   यह बातें मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बुधवार को श्रद्धेय डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी जी के बलिदान दिवस पर भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश कार्यालय में आयोजित कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कही। इससे पहले उन्होंने डॉ. मुखर्जी के चरणों में श्रद्धांजलि अर्पित की।   मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि मैं संगठन के साथियों का अभिनंदन करता हूं कि वे श्रद्धेय डॉ. श्यामाप्रसाद मुखर्जी, ठाकरे जी, खंडेलवाल जी, नानाजी, पटवा जी, जोशी जी, सुषमा जी, जिन्होंने भारतीय जनसंघ और भारतीय जनता पार्टी को अपने पसीने से सींचा था, उनकी स्मृति में पौधे लगा रहे हैं। साथ ही हमारे वो भाई-बहन जो कोविड-19 के कारण हमें छोड़कर चले गये, उनकी स्मृति में भी पौधरोपण किया जा रहा है। मुझे लगता है कि आज के दौर में यही सबसे बड़ी श्रद्धांजलि है।   उन्होंने कहा कि चुनौती के समय में 'सेवा ही संगठन है' एक चमत्कारी कार्यक्रम था। मध्यप्रदेश में भी भारतीय जनता पार्टी के साथी कार्यकर्ताओं ने अद्भुत काम किया। एमपी वैक्सीनेशन महाअभियान में भी जो काम हुआ है, उसके लिए मैं आपका और प्रदेशवासियों का हृदय से अभिनंदन करता हूं। वैक्सीनेशन महाअभियान में हमने लक्ष्य रखा 10 लाख का और 16 लाख से अधिक लोगों का रिकॉर्ड वैक्सीनेशन हो गया। वैक्सीन ही कोरोना का सुरक्षा चक्र है। इसलिए आग्रह करता हूं कि सभी वैक्सीनेशन अवश्य करवायें।

Dakhal News

Dakhal News 23 June 2021


bhopal, vaccine is found, markets will also remain open ,hard work continue, CM Shivraj

भोपाल।  मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि अब हमें न अपनो को अपनो से बिछड़ने देना है, न काम-धंधा बिगड़ने देना है। कोरोना से बचने का सबसे प्रभावी तरीका वैक्सीन लगवाना है। यदि वैक्सीन लग गई तो बाजार भी खुले रहेंगे और मेहनत-मजदूरी भी चलती रहेगी। मुख्यमंत्री चौहान ने सोमवार को टीकाकरण अभियान के प्रेरक के रूप में भोपाल के अन्ना नगर क्षेत्र के लोगों से संवाद कर रहे थे।   उन्होंने कहा कि दुनिया भर के लोग और वैज्ञानिक कोरोना की तीसरी लहर की आशंका जता रहे हैं और इस लहर को रोकने के लिए ही टीकाकरण का अभियान प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के आव्हान पर शुरू किया गया है। दुनिया के सबसे बड़े मुफ्त टीकाकरण अभियान के अंतर्गत प्रदेश में एक साथ 7 हजार केन्द्रों पर एक दिन में 10 लाख से अधिक टीकाकरण का लक्ष्य रखा गया है।   मुख्यमंत्री ने इस अभियान में अन्ना नगर क्षेत्र की जनता से सम्पर्क किया। उन्होंने पंडित दीनदयाल उपाध्याय के चित्र पर माल्यार्पण तथा दीप प्रज्जवलित कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया। इस अवसर पर चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास कैलाश सारंग और सांसद विष्णु दत्त शर्मा भी उपस्थित थे। मुख्यमंत्री चौहान ने टीकाकरण अभियान को सफल बनाने का संकल्प भी दिलाया।   "प्रधानमंत्री मोदी का आभार" मुख्यमंत्री ने कोरोना की दूसरी लहर की दिल दहला देने वाली पीड़ा को साझा करते हुए कहा कि हमें वैक्सीन ही तीसरी लहर से बचा सकती है। उन्होंने कहा कि सरकार की चिंता अपने नागरिकों का जीवन सुधारने और लॉकडाउन जैसे बुरे वक्त को रोकने की है। इसलिए 18 वर्ष के ऊपर के सभी नागरिक प्रधानमंत्री द्वारा उपलब्ध करवाई गई वैक्सीन हर हालत में लगवाएं। उन्होंने सबको मुफ्त वैक्सीन के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का आभार माना।   "रंगोली और हाथ से लिखे बैनरों से बना टीकाकरण का वातावरण" मुख्यमंत्री चौहान के अन्ना नगर पहुंचने पर स्थानीय निवासी आयशा ने पुष्प भेंट कर उनका स्वागत किया। अन्ना नगर निवासियों द्वारा मुख्यमंत्री के स्वागत में सड़क पर जगह-जगह रंगोली बनाई हुई थी। रंगोली में स्वागत के भाव के साथ-साथ कोरोना से बचाव और टीकाकरण के संदेश भी अभिव्यक्त हो रहे थे। "ओ कोरोना कभी मत आना", "जो परिवार से करे प्यार, वो वैक्सीन से कैसे इंकार" की रंगोली और हाथ से लिखे छोटे बैनरों से बस्ती में अभियान का वातावरण बना हुआ था।   "वैक्सीन कोरोना का हेलमेट है- जरूर लगवा लेना" मुख्यमंत्री ने अन्ना नगर बस्ती की अश्विनी यादव, प्रियंका सिंह, राहुल सहित कई युवाओं और वृद्धजन से व्यक्तिगत रूप से भेंट की और दुकानों व घरों में जाकर जनसामान्य से बात कर टीकाकरण के लिए प्रेरित किया। मुख्यमंत्री ने इस बातचीत में कहा कि "वैक्सीन कोरोना का हेलमेट है- जरूर लगवा लेना"। बस्ती के जिन लोगों ने कहा कि हमने टीका लगवा लिया है, उन्हें मुख्यमंत्री ने धन्यवाद दिया।   "वैक्सीन से न घबरायें और न अफवाहों पर ध्यान दें" मुख्यमंत्री चौहान ने जनसंवाद के इस कार्यक्रम में मंच पर खड़े रहकर ही लोगों से बातचीत की। उन्होंने कहा कि हम कोरोना के भयावह दिन लौटने नहीं देंगे। प्रदेश में फिर से दुकानें, काम-धंधा, मेहनत-मजदूरी बंद नहीं होगी। कोरोना की तीसरी लहर की पूरी दुनिया में आशंका है। इसका कहीं-कहीं प्रभावी भी दिख रहा है। टीकाकरण जीवन का सुरक्षा चक्र है। यह जिन्दगी का डोज़ है। हमारी कोशिश होगी कि अगले कुछ दिनों में ही प्रदेश की अधिकतम जनसंख्या को वैक्सीन लग जाए। उन्होंने यह समझाइश भी दी कि टीकाकरण के बाद कुछ लोगों को हाथ-पैर दर्द जैसे हल्के लक्षण रहते हैं। इससे घबराने, भ्रमित होने, अफवाहों पर ध्यान देने की जरूरत नहीं है। यह टीका पूर्णता सुरक्षित, असरकारी और हानिरहित है।   "टेस्टिंग के लिए लोग स्वयं आगे आएं" मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में कोरोना से बचाव के सभी उपायों जैसे मास्क लगाना, दूरी बनाए रखना, हाथ बार-बार धोने का पूरी गंभीरता से पालन किया जाएगा। प्रदेश में टेस्टिंग को बढ़ाया जा रहा है। उन्होंने अपील की कि टेस्टिंग के लिए लोग स्वयं आगे आएं इससे बचे नहीं। उन्होंने कहा कि प्रदेश में व्यापक स्तर पर किल कोरोना अभियान जारी रहेगा।   "तीसरी लहर के लिए अस्पतालों में तैयारियां जारी" मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार कोरोना की तीसरी लहर का सामना करने के लिए अस्पतालों में भी व्यापक स्तर पर तैयारियां कर रही है। आई.सी.यू. बैड, ऑक्सीजन बैड, बच्चों के आई.सी.यू. वार्ड, ऑक्सीजन की उपलब्धता, दवाइयों और उपकरणों की आपूर्ति के साथ-साथ पैरामेडिकल स्टाफ के प्रशिक्षण के लिए आवश्यक गतिविधियां पूरे प्रदेश में जारी हैं।  

Dakhal News

Dakhal News 21 June 2021


bhopal,CM Shivraj ,greets the people , state, World Yoga Day

भोपाल। आज यानि 21 जून को पूरी दुनिया में अंतरराष्ट्रीय योग दिवस मनाया जाता है। पहला अंतरराष्ट्रीय योग दिवस 21 जून 2015 को मनाया गया था। योग दिवस को मनाए जाने का प्रस्ताव सबसे पहले भारत के प्रधानमंत्री मोदी ने 27 सितंबर, 2014 को संयुक्त राष्ट्र महासभा के अपने संबोधन में किया था। इसके बाद संयुक्त राष्ट्र ने इस बारे में एक प्रस्ताव लाकर 21 जून को इंटरनेशनल योग डे मनाने की घोषणा की। योग दिवस के अवसर पर मप्र के सीएम शिवराज सिंह चौहान ने प्रदेश वासियों को शुभकामनाएं दी है। इसके अलावा सीएम शिवराज ने भाजपा कार्यालय में योग दिवस पर आयोजित योग कार्यक्रम में भी शिरकत की और योगा किया।   सीएम शिवराज ने ट्वीट कर लिखा ‘आपको #InternationalDayOfYoga की शुभकामनाएं!प्रधानमंत्री श्री @narendramodi जी के प्रयासों से 21 जून को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के रूप में नई पहचान मिली और योग का लाभ विश्व के अधिक लोगों को मिलना प्रारंभ हुआ।प्रधानमंत्री जी के इस विश्व के कल्याणकारी कदम के लिए हृदय से अभिनंदन! भारत की संस्कृति की अमूल्य विद्या 'योग' विश्व का कल्याण करती है। योग गुरु महर्षि पतंजलि, परमहंस योगानंद, बाबा रामदेव जैसे अनेक योग गुरुओं ने अपने प्रयासों से योग विद्या को जन-जन तक पहुंचाकर सदैव स्वस्थ रहने का आशीर्वाद दिया है। सीएम शिवराज ने योग के लाभ बताते हुए कहा कि ‘योग से शारीरिक एवं मानसिक शांति मिलती है और यह निरोग तथा स्वस्थ रहने का सबसे प्रभावी माध्यम है। अत: आपसे आग्रह है कि केवल #InternationalDayOfYoga पर नहीं, अपितु नित्य योग कीजिये और सदैव स्वस्थ रहिये।   भाजपा प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा ने भी विश्व योग दिवस की शुभकामनाएं देते हुए कहा ‘योग वह जीवन दर्शन है जो शरीर, मन और आत्मा को एकसाथ जोड़ता है। रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने एवं रोगमुक्त रहने के लिए योग अभ्यास को अपने जीवन का अंग बनाएं। अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस की सभी देशवासियों को अनंत बधाई एवं शुभकामनाएं।

Dakhal News

Dakhal News 21 June 2021


bhopal,Corona vaccination ,campaign started, MP, target of injecting, 10 lakh doses

भोपाल। मध्यप्रदेश में सोमवार सुबह अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर वैक्सीनेशन महाअभियान की शुरुआत हुई। इस अभियान के तहत राज्य में लगभग सात हजार टीकाकरण केंद्रों पर दिनभर में कम से कम दस लाख डोज लगाने का लक्ष्य रखा गया है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि कोरोना को हराने का एकमात्र उपाय वैक्सीनेशन है। मुझे हर्ष है कि मप्र में कोरोना के खिलाफ एकजुटता का अद्भुत, अनुपम उदाहरण जनता ने प्रस्तुत किया है। मैं प्रदेश की जनता, जनप्रतिनिधियों और सामाजिक संस्थाओं का आभार व्यक्त करता हूँ।   मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान सोमवार सुबह करीब 11.15 बजे दतिया जिले के ग्राम पाराशरी पहुंचे, जहां आयोजित कार्यक्रम में उन्होंने वैक्सीनेशन महाअभियान का शुभारम्भ किया। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने कहा कि वैक्सीन ही सुरक्षा है! यह टीका नहीं, संजीवनी है! प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी ने फैसला किया कि देश के 18 साल से ऊपर के सभी नागरिकों को नि:शुल्क कोविड-19 का टीका लगाया जायेगा। उनके इस फैसले के लिए हृदय से आभार व्यक्त करता हूं।   मुख्यमंत्री चौहान ने ट्वीट के माध्यम से कहा है कि मध्यप्रदेश ने आज टीकाकरण महाअभियान के अंर्तगत 10 लाख डोज लगाने का लक्ष्य लिया है, जो सराहनीय है। इसके पूर्व भी जनता कर्फ्यू के पालन का आदर्श उदाहरण मध्यप्रदेश ने देश के समक्ष रखा है। वैक्सीन लगवाकर कोरोना महामारी को हरायें। यही जीवन का सुरक्षा चक्र है। आज अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर शुरु हुये वैक्सीन महाअभियान में अपना सहयोग दें। खुद वैक्सीन लगवायें व औरों को भी प्रेरित करें। वैक्सीन निश्चित तो जीवन सुरक्षित।   मप्र में सात हजार केन्द्रों पर सोमवार सुबह कोरोना वैक्सीनेशन महाअभियान की शुरुआत हुई। इस अभियान के तहत लोगों को वैक्सीन लगवाने के लिए प्रोत्साहित किया जा रहा है और उन्हें यह भी बताया जा रहा है कि कोरोना से निपटने का सबसे प्रभावी उपाय वैक्सीनेशन ही है। वैक्सीनेशन केन्द्रों पर सात हजार गणमान्य प्रेरक की भूमिका निभा रहे हैं। सभी केंद्रों पर लगभग 19 लाख वैक्सीन उपलब्ध कराए गए हैं। 35 हजार से अधिक अधिकारियों-कर्मचारियों को तैनात किया गया है। प्रत्येक केन्द्र पर पांच सदस्यीय दल मौजूद है। निगरानी के लिए 1500 जोनल और सेक्टर अधिकारी तैनात हैं।  

Dakhal News

Dakhal News 21 June 2021


bhopal,Preparations underway, face third wave ,corona in MP, Chief Minister

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि कोरोना संक्रमण की तीसरी लहर से बचाव के लिए प्रदेश की अधिक से अधिक जनसंख्या को जल्द से जल्द वैक्सीनेशन का सुरक्षा चक्र प्रदान कर दिया जाएगा। तीसरी लहर का सामना करने के लिए अस्पतालों के संसाधनों में लगातार वृद्धि की जा रही है। मुख्यमंत्री चौहान शनिवार को कोविड-19 वैक्सीनेशन महाअभियान के संबंध में धर्मगुरुओं सहित जिलों के गणमान्य नागरिकों को निवास से वर्चुअली संबोधित कर रहे थे। इस दौरान अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य मोहम्मद सुलेमान ने वैक्सीनेशन तथा प्रदेश में तीसरी लहर का सामना करने के लिए जारी तैयारियों पर प्रस्तुतिकरण दिया।21 जून को 14 लाख वैक्सीन होंगी उपलब्धवर्चुअल बैठक में बताया गया कि 21 जून को वैक्सीनेशन महाअभियान के लिए प्रदेश में 7 हजार वैक्सीनेशन केन्द्र बनाए जाएँगे। इन केन्द्रों का व्यापक प्रचार-प्रसार सुनिश्चित किया जाएगा ताकि लोग 21 जून को आसानी से वैक्सीनेशन के लिए इन केन्द्रों पर पहुँच सके। प्रदेश के दूरस्थ अंचलों तक वैक्सीन पहुँचाने की प्रक्रिया आरंभ हो गई है। सीधी, सिंगरौली जैसे दूरस्थ जिलों में समय रहते वैक्सीन की उपलब्धता सुनिश्चित की जाएगी। लक्ष्य यह है कि 21 जून को 14 लाख वैक्सीन प्रदेश के केन्द्रों पर उपलब्ध हो। वैक्सीन महाअभियान में 10 लाख टीकाकरण का लक्ष्य रखा गया है। महाअभियान के लिए वातावरण निर्माण इस प्रकार से हो कि वैक्सीनेशन की संख्या 10 लाख से अधिक हो।प्रधानमंत्री से आग्रह के परिणाम स्वरूप मिली अतिरिक्त वैक्सीनअपर मुख्य सचिव सुलेमान ने बताया कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से मुख्यमंत्री चौहान द्वारा आग्रह के परिणाम स्वरूप प्रदेश में वैक्सीन की आपूर्ति बढ़ी है। आगामी 10 दिन के लिए प्रदेश को 50 लाख वैक्सीन मिल रही हैं। यह प्रदेश के लिए बड़ा अवसर है। हमें सुनिश्चित करना है कि इतनी बड़ी संख्या में प्राप्त हो रही वैक्सीन का समय रहते उपयोग हो। यह सुनिश्चित करना आवश्यक है कि वैक्सीन की वेस्टेज न हो। एक वॉइल में 11 डोज रहती हैं, एक वॉइल से 10 व्यक्तियों के टीकाकरण की व्यवस्था है। हमारा प्रयास हो कि एक वॉइल से 11 लोगों का वैक्सीनेशन किया जाए।वैक्सीनेशन सेंटरों का व्यापक प्रचार-प्रसार सुनिश्चित किया जाएप्रस्तुतिकरण में बताया गया कि वैक्सीनेशन अभियान 21 जून के बाद निरंतर जारी रहेगा। जिन गाँवों, वार्डों में वैक्सीनेशन पूर्ण होगा वहाँ से वैक्सीनेशन सेंटरों का स्थान परिवर्तन किया जाएगा। यह ध्यान रखना आवश्यक है कि जहाँ अगला वैक्सीनेशन सेंटर स्थापित किया जा रहा है, उसका प्रचार-प्रसार क्षेत्र में व्यापक रूप से किया जाए। इससे जन-सामान्य को वैक्सीनेशन सेंटर पहुँचने में आसानी होगी और वैक्सीनेशन डोज वेस्ट भी नहीं होंगे।वैक्सीनेशन के तय प्रोटोकॉल का ध्यान रखा जाएवैक्सीनेशन के तय प्रोटोकॉल का ध्यान आवश्यक रूप से रखा जाए। वैक्सीनेशन के बाद आधा घंटा आराम कराना आवश्यक है, इस व्यवस्था का पालन किया जाए। सामान्य बुखार आने या अन्य लक्षणों पर भी नजर रखी जाए और आवश्यक सलाह दी जाए। इससे अनावश्यक भ्रम फैलने की स्थिति को रोका जा सकेगा। आवश्यकता होने पर रेफरल स्वास्थ्य संस्थाओं की सहायता ली जाए।राज्य सरकार वायरस के नए वैरिएंट के संबंध में सतर्ककोरोना संक्रमण की तीसरी लहर की संभावनाओं के संबंध में प्रस्तुति बताया गया कि अगले एक माह में हमें तीसरी लहर का सामना करना पड़ सकता है। कोविड अनुकूल व्यवहार यदि नहीं रखा गया तो निश्चित है कि कोरोना के प्रकरण बढ़ेंगे। कोरोना का वायरस अभी गया नहीं है। अब डेल्टा प्लस वेरिएंट की बात हो रही है। वायरस के प्रतिदिन नए वेरिएंट सामने आ रहे हैं। राज्य सरकार वायरस के नए वेरिएशन्स पर लगातार नजर रखे हुए है।अस्पतालों के लिए 61 करोड़ रुपये की स्वीकृतियाँ जारीराज्य शासन द्वारा आगामी परिस्थितियों के लिए लगातार तैयारी की जा रही है। जिला स्तर पर आई.सी.यू, एच.डी.यू, पीडियाट्रिक आई.सी.यू. और ओ.टी. बेड बढ़ाने के लिए लगभग 61 करोड़ रुपये की स्वीकृतियाँ जारी की जा चुकी हैं। उपकरणों आदि की आपूर्ति के लिए भी आदेश दिए जा चुके हैं। प्रयास यह है कि प्रदेश में जुलाई अंत तक आवश्यक अधोसंरचना स्थापित हो जाए।112 ऑक्सीजन प्लांट और 7 हजार ऑक्सीजन कंसंट्रेटर की व्यवस्थाप्रदेश में 112 ऑक्सीजन पी.एस.ए. प्लांट स्वीकृत हो गए हैं। आगामी 15 अगस्त तक लगभग सभी प्लांट क्रियाशील हो जाएंगे। बैठक में जिला कलेक्टर्स को निर्देश दिए गए कि वे इन ऑक्सीजन प्लांटस के लिए बिजली कनेक्शन की व्यवस्था पूर्व से ही सुनिश्चित कर लें ताकि प्लांटस के क्रियान्वयन में विलंब न हो। प्रदेश के विभिन्न जिलों को 4,500 ऑक्सीजन कंसंट्रेटर उपलब्ध कराए गए हैं। इसके अतिरिक्त भारत सरकार तथा अन्य स्त्रोतों से लगभग 2,500 कंसंट्रेटर और प्राप्त हो रहे हैं। जिलों को उनकी आवश्यकता के अनुसार कंसंट्रेटर उपलब्ध कराए जाएंगे। अत: जिला अस्पतालों के साथ-साथ सामुदायिक तथा प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों पर भी ऑक्सीजन कंसंट्रेटर उपलब्ध कराए जायें।वॉक इन इंटरव्यू से करें रिक्त पदों की पूर्तिमेडिकल कॉलेजों में रिक्त डॉक्टरों तथा चिकित्सा विशेषज्ञों के पदों की पूर्ति के लिए भी संभागायुक्तों को निर्देश दिए गए। इसके लिए वॉक इन इंटरव्यू की व्यवस्था आरंभ करने का सुझाव दिया गया। मेडिकल कॉलेजों में जुलाई तक नर्सेस की सभी रिक्तियाँ भर ली जाएँगी। इन्हें तत्काल कोविड संबंधी प्रशिक्षण देकर बच्चों के वार्ड तथा अन्य आवश्यक स्थानों पर इनकी सेवाएँ ली जाएँ।

Dakhal News

Dakhal News 19 June 2021


bhopal,Vaccination campaign, start at seven thousand centers, MP on June 21

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शनिवार को कोरोना वैक्सीनेशन के महाअभियान को लेकर सोशल मीडिया के माध्यम से प्रदेश की जनता को संबोधित किया। उन्होंने कहा कि 21 जून से प्रदेश में टीकाकरण का महाअभियान है। यह पवित्र अभियान है, लोगों के जीवन को बचाने का अभियान है। इसमे पूरी सरकार जुटेगी, लेकिन समाज को भी जुटना पड़ेगा। राज्य में 7000 केंद्रों पर 21 जून को सुबह 10 बजे से कार्यक्रम शुरू होगा। यह जिंदगी बचाने का अभियान है, आप इसमें उत्साह पूर्वक शामिल होकर वैक्सीन प्रेरक बनें। वैक्सीन के लिए आम जन को प्रेरणा दें। यही मेरा आपसे अनुरोध है।मुख्यमंत्री चौहान ने प्रदेशवासियों को संबोधित करते हुए कहा कि हमारा लक्ष्य है कि अक्टूबर तक अधिक से अधिक लोगों को वैक्सीन लगा सकें ताकि तीसरी लहर आए भी तो कम से कम से असर हो। धर्मगुरु, समाजसेवी, समाज प्रमुख, चिंतक, कलाकार, लेखक समाज के प्रतिष्ठित व्यक्ति सभी वैक्सीन लगाने को लेकर समाज में प्रेरणा देने का काम करें, इससे जनता में विश्वास बढ़ेगा।उन्होंने कहा कि अब मध्यप्रदेश में संक्रमण नियंत्रण में है। लेकिन वायरस अभी है। जैसे ही अनलॉक होता है, मिलना जुलना शुरू होता है ये फिर से बढ़ना शुरू होता है। लेकिन हम कब तक बंद करेंगे, इससे नुकसान होता है। हमें ऐसे तरीका निकालना है कि आर्थिक गतिविधियां चलती रहें और कोरोना संक्रमण भी नियंत्रण में रहे। आपका सहयोग मिलेगा तो हम संक्रमण को बढ़ने से रोक देंगे। आपकी बात का प्रभाव है, आपके सहयोग से ही ये संभव हो पाएगा।मुख्यमंत्री ने कहा कि हम लगातार बड़ी संख्या में टेस्ट करेंगे, कान्टैक्ट ट्रेसिंग करेंगे और जो पाज़िटिव आए उन्हे अलग करेंगे, माइक्रो कंटेन्मेंट ज़ोन बनायेंगे और किल कोरोना अभियान चलता रहेगा। इसमें आपका सहयोग चाहिये, टेस्टिंग होती रहे। कोविड अनुरूप व्यवहार का जनता पालन करे, इसमे आपका सहयोग चाहिये। हर जगह कोविड प्रोटोकॉल का पालन हो, मास्क लगाना, दूरी रखना और हाथ धोते  रहना। जनता को सचेत करना पड़ेगा।उन्होंने कहा कि राज्य में स्वास्थ्य अधोसंरचना बढ़ाने का काम हम लगातार कर रहे हैं। टीका लगवाना अत्यंत महत्वपूर्ण है। दुनिया भर के वैज्ञानिकों ने रिसर्च के बाद पाया है कि वैक्सीन सुरक्षा चक्र है। 'मैं स्वयं भी वैक्सीन लगवाऊँगा और दूसरों को भी प्रेरित करूंगा' इस बात का संकल्प लेना होगा उस दिन। बुजुर्गों को घर पहुँच सेवा प्रदान की जाए।मुख्यमंत्री ने कहा कि वैक्सीन का एक भी डोज बेकार ना जाए, क्राइसिस मैनेजमेंट कमेटी अलग-अलग तरीकों से प्रचार प्रसार करें। मैं स्वयं भी निकलूँगा इस उद्देश्य के लिए। हमें वैक्सीन लगवाने के लिए वातावरण बनाना है। जिस गाँव में पूरी तरह से वैक्सीन लग जाएगी, उनकी रैंकिंग भी करेंगे। इस अभियान में आपका सहयोग चाहिये, आप अपने अपने ढंग से प्रचार-प्रसार का अभियान चलाएं। सोशल मीडिया अपील करें। इस काम के लिए मप्र वैक्सीनेशन महाअभियान तय किया गया है, अधिक से अधिक संख्या में इसका उपयोग करें। अधिक से अधिक संख्या में लोगों को वैक्सीन लगे ये हमारा लक्ष्य है। आइए मिलकर हम इस अभियान को सफल बनाएं।

Dakhal News

Dakhal News 19 June 2021


bhopal, Public awareness campaign , vaccination from June 21

भोपाल। मध्यप्रदेश में जन-भागीदारी के साथ कोरोना संक्रमण के नियंत्रण के लिये अपनाई गई रणनीति के काफी सकारात्मक परिणाम मिले हैं। प्रदेश में आज की स्थिति में कोरोना पूरी तरह से काबू में है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के भागीरथी प्रयासों और प्रदेश की जनता द्वारा संक्रमण नियंत्रण में की गई भागीदारी से कोरोना संक्रमण लगभग शून्य पर आ गया है। कोरोना की संभावित तीसरी लहर से प्रदेशवासियों को बचाने के लिये मुख्यमंत्री चौहान ने सभी पुख्ता इंतजामों के साथ वैक्सीनेशन के लिये महाभियान चलाने का निर्णय लिया है। प्रदेश में 21 जून से वैक्सीनेशन के लिये जन-जागरण अभियान चलाया जाएगा।   मुख्यमंत्री चौहान ने 21 जून से प्रांरभ होने वाले वैक्सीनेशन जन-जागरण अभियान में सभी वर्गों की भागीदारी के लिये अपील की है। चौहान ने कहा कि वैक्सीनेशन जन-जागरण अभियान में सभी मंत्री, सांसद, विधायक सहित नगरीय एवं ग्रामीण क्षेत्रों के प्रतिनिधि, जिला, ब्लाक, ग्राम एवं वार्ड स्तर की क्राइसिस मैनेजमेंट कमेटियाँ, म.प्र. जन-अभियान परिषद, कोरोना वॉलेंटियर्स सहित विभिन्न समाजिक संगठन एवं सामाजिक कार्यकर्ता सक्रिय भूमिका निभाएंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारा लक्ष्य है कि प्रदेश के लक्षित समूह का शत-प्रतिशत वैक्सीनेशन करवा कर लोगों को कोरोना से सुरक्षा प्रदान की जाए।   तीन स्तर के क्राइसिस मैनेजमेंट समूहों से संवाद प्रदेश में कोरोना संक्रमण की चेन को तोड़ने के लिये जिस प्रकार से जन-भागीदारी का उदाहरण मध्यप्रदेश ने पूरे देश में प्रस्तुत किया है, उसी तर्ज पर अब वैक्सीनेशन के लिये भी जन-भागीदारी जुटाई जा रही है। इसी क्रम में मुख्यमंत्री चौहान ने जन-जागरण अभियान के पूर्व 17 जून को वैक्सीनेशन के संबंध में जिला, विकासखण्ड और ग्राम स्तरीय क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप्स के सदस्यों को वर्चुअली संबोधित किया। चौहान ने अपने संबोधन में सभी सदस्यों को वैक्सीनेशन अभियान में सक्रिय भूमिका के लिये प्रेरित किया। उन्होंने कहा कि जिस तरह से कोरोना संक्रमण को रोकने में क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप्स ने सहभागिता की, उसके सुखद परिणाम आज पूरा राष्ट्र देख रहा है। अब समय है कि प्रदेशवासियों को भविष्य के लिये सुरक्षा कवच प्रदान करने का। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेशवासियों के हित में शुरू किये जा रहे वैक्सीनेशन अभियान में सभी वर्ग जुड़ कर पुन: उदाहरण प्रस्तुत करें।   मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश के सभी जिलों में वैक्सीनेशन का कार्य जारी है। कई जिलों में वैक्सीनेशन के लिये नवाचार भी किये गये हैं। भोपाल जिले सहित अनेक जिलों में ड्राइव-इन के माध्यम से भी लोगों को वैक्सीन लगाई गई है। नि:शक्त जनों को वैक्सीन लगाने के लिये भी पृथक से व्यवस्था की गई। ग्रामीण क्षेत्रों में कोरोना वॉलेंटियर्स द्वारा ग्रामीणों को न केवल वैक्सीन लगवाई गई बल्कि वैक्सीन के संबंध में फैली अफवाहों को भी दूर कर ग्रामवासियों को वैक्सीन लगावाने के लिये सहमतन किया गया। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में वैक्सीन की पर्याप्त उपलब्धता सुनिश्चित की जा रही है। केन्द्र सरकार का भी इसमें पूर्ण सहयोग मिल रहा है।   सात हजार वैक्सीन केन्द्र वैक्सीनेशन महा अभियान के लिये प्रदेश में 7 हजार केन्द्र बनाये गये है। केन्द्रों का चयन एप्रोचेबल और नागरिकों की सुविधा को ध्यान में रख कर किया गया है। सभी केन्रों क पर समाज के प्रबुद्ध व्यक्तियों द्वारा किया जाएगा। महा अभियान के प्रांरभ दिवस पर मुख्यमंत्री चौहान कुछ जिले से अभियान का शुभारंभ करेंगे। इसके साथ ही अन्य जिलों में साहित्यकार, धर्मगुरू, धार्मिक एवं सामाजिक संगठनों के प्रमुख व्यक्ति, शिक्षाविद और मीडिया जगत के प्रबुद्ध जन सहित जिले के प्रबुद्ध नागरिक अपने-अपने क्षेत्र में अभियान की शुरूआत कर लोगों को प्रेरित करेंगे। वैक्सीनेशन सेंटर पर आये लोगों का टीकाकरण के साथ तिलक लगाकर स्वागत और कोविड अनुकूल व्यवहार एवं सावधानियों के प्रति सजग भी किया जाएगा।   अभियान में जन-भागीदारी की हो चुकी शुरूआत कोविड-19 के संक्रमण से सुरक्षा कवच प्रदान करने वाली वैक्सीन के लिये प्रदेश के जिलों में जन-भागीदारी को बढ़ाने का काम शुरू हो चुका है। मुरैना जिले की ग्राम पंचायत धनेला, खड़गपुर, गुलेंद्रा और चुरहेला में जन-जागरूकता शिविर आयोजित किये गये। शिविर में अधिकारियों ने घर-घर जाकर ग्रामीणों को पीले चावल देकर वैक्सीनेशन कराने का आमंत्रण दिया और अपील की कि महा अभियान वाले दिन वैक्सीनेशन सेन्टर पर आकर वैक्सीनेशन जरूर करायें। पीले चावल पाकर ग्रामीण जन प्रफुल्लित हो उठे, उनका कहना था कि अभी तक शादी-ब्याह में ही पीले चावल देकर आमंत्रण दिया जाता था, जो शुभ संदेश भी माना जाता है। ग्रामीणों ने जिला प्रशासन के इस अनूठे आमंत्रण को सहज स्वीकारते हुए वैक्सीन लगाने की सहमति भी दी।   महा अभियान के लिये जन-जागृति वैक्सीनेशन महा अभियान के लिये आमजन में जागृति लाने विभिन्न प्रचार माध्यमों का उपयोग किया जा रहा है। इन प्रचार माध्यमों में पारम्परिक दीवार लेखन के साथ आधुनिक सोशल एवं डिजिटल मीडिया को भी शामिल किया गया है। साथ ही शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्रों में संवाद के माध्यम से भी वैक्सीन के प्रति लोगों को जागरूक किया जा रहा है। महा अभियान के दिन जिन लोगों का वैक्सीनेशन होगा, प्रेरणा स्वरूप उनके फोटो और वीडियो सोशल मीडिया पर अपलोड भी किये जाएंगे। राज्य सरकार का लक्ष्य है कि वैक्सीनेशन महा अभियान के दिन 10 लाख लोगों को वैक्सीन लगाई जाएगी।   पर्यवेक्षण वैक्सीनेशन महा अभियान के प्रारंभ दिवस की समस्त गतिविधियों के पर्यवेक्षण के लिये राज्य एवं जिला स्तर पर कन्ट्रोल रूम की स्थापना की जायेगी, जिसमें पर्याप्त संख्या में मानव संसाधन एवं संचार माध्यमों की व्यवस्था होगी। प्रत्येक चार से पाँच वैक्सीनेशन केन्द्रों के ऊपर एक वाहनयुक्त जोनल अधिकारी नियुक्त किया जायेगा जो वैक्सीनेशन महा अभियान की समस्त गतिविधियों का पर्यवेक्षण अपने प्रभार के केन्द्रों पर निरंतर भ्रमण कर करेगा। पर्यवेक्षण के लिये नियुक्त जोनल अधिकारी निरंतर जिला स्तरीय कन्ट्रोल रूम के संपर्क में रहेंगे और प्रत्येक घंटे की रिपोर्ट देंगे।

Dakhal News

Dakhal News 18 June 2021


bhopal,Government preparing, release rapists , parole in Corona epidemic

भोपाल। प्रदेश की जेल में आजीवन कारावास की सजा काट रहे 400 दुष्कर्मियों को कोरोना महामारी में पैरोल पर रिहा करने की तैयारी की जा रही है। जेल मुख्यालय ने सभी जेलों को इस संबंध में पत्र लिखा है। मामला सामने आते ही कांग्रेस ने सरकार के इस निर्णय का विरोध जताया है।   मामले में पूर्व मुख्यमंत्री व कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष कमलनाथ ने शुक्रवार को ट्वीट करते हुए लिखा कि यह जानकारी सामने आयी है कि प्रदेश में आजीवन कारावास की सजा काट रहे 400 के कऱीब दुष्कर्मियों को शिवराज सरकार कोरोना के नाम पर पैरोल पर छोडऩे की तैयारी कर रही है, इसमें से 100 के कऱीब तो मासूम बच्चियों से दुष्कर्म के दोषी है? यह फ़ैसला बेहद निंदनीय है। जब प्रदेश में कोरोना की दूसरी लहर तकऱीबन समाप्ति की कगार पर है तो ऐसे में इस निर्णय पर कई सवाल भी खड़े हो रहे है? प्रदेश पहले से ही दुष्कर्म के मामलों में देश के शीर्ष राज्यों में शामिल है और इस निर्णय से पीडि़त परिवारों में भी असंतोष है। सरकार तत्काल इस निर्णय पर रोक लगाये।उधर, कांग्रेस के पूर्व प्रदेशाध्यक्ष अरुण यादव ने कहा कि मीडिया के माध्यम से संज्ञान में आया है कि मप्र में उन कैदियों को पैरोल पर रिहा किया जा रहा है। जिनके खिलाफ दुष्कर्म के मामले दर्ज है, जबकि मप्र महिला अपराध व दुष्कर्मों के मामलों में देश में अव्वल है। यह रिकॉर्ड पर है। ऐसे में सरकार दुष्कर्मियों को छोडऩे की तैयारी कर रही है। यह सरासर गलत है। समाज के साथ ज्यादती है। मैं सरकार से कहना चाहता हूं सरकार ऐसे बलात्कारियों को कभी न छोड़े। उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई करें।   उन्होंने कहा कि शिवराज जी आपका चरित्र ही समझ से परे है। कांग्रेस नेता अरुण यादव ने ट्वीट पर लिखा कि शिवराज जी आपका चरित्र ही समझ से परे है, आखिरकार आप चाहते क्या हैं-एक तरफ आप कांग्रेसके सहयोग के बाद वर्ष-2011 में बलात्कारियों के खिलाफ फांसी का अध्यादेश लाए (फांसी हुई कितनों को) दूसरी तरफ अब आपकी सरकार उम्रकैद काट रहे दुष्कर्मियों को पैरोल पर छोडऩे की पैरोकार हो गई? किस हद तक, कितना गिरेंगे आप? यही तो अंतर है मामा और कंस में?

Dakhal News

Dakhal News 18 June 2021


bhopal,Government preparing, release rapists , parole in Corona epidemic

भोपाल। प्रदेश की जेल में आजीवन कारावास की सजा काट रहे 400 दुष्कर्मियों को कोरोना महामारी में पैरोल पर रिहा करने की तैयारी की जा रही है। जेल मुख्यालय ने सभी जेलों को इस संबंध में पत्र लिखा है। मामला सामने आते ही कांग्रेस ने सरकार के इस निर्णय का विरोध जताया है।   मामले में पूर्व मुख्यमंत्री व कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष कमलनाथ ने शुक्रवार को ट्वीट करते हुए लिखा कि यह जानकारी सामने आयी है कि प्रदेश में आजीवन कारावास की सजा काट रहे 400 के कऱीब दुष्कर्मियों को शिवराज सरकार कोरोना के नाम पर पैरोल पर छोडऩे की तैयारी कर रही है, इसमें से 100 के कऱीब तो मासूम बच्चियों से दुष्कर्म के दोषी है? यह फ़ैसला बेहद निंदनीय है। जब प्रदेश में कोरोना की दूसरी लहर तकऱीबन समाप्ति की कगार पर है तो ऐसे में इस निर्णय पर कई सवाल भी खड़े हो रहे है? प्रदेश पहले से ही दुष्कर्म के मामलों में देश के शीर्ष राज्यों में शामिल है और इस निर्णय से पीडि़त परिवारों में भी असंतोष है। सरकार तत्काल इस निर्णय पर रोक लगाये।उधर, कांग्रेस के पूर्व प्रदेशाध्यक्ष अरुण यादव ने कहा कि मीडिया के माध्यम से संज्ञान में आया है कि मप्र में उन कैदियों को पैरोल पर रिहा किया जा रहा है। जिनके खिलाफ दुष्कर्म के मामले दर्ज है, जबकि मप्र महिला अपराध व दुष्कर्मों के मामलों में देश में अव्वल है। यह रिकॉर्ड पर है। ऐसे में सरकार दुष्कर्मियों को छोडऩे की तैयारी कर रही है। यह सरासर गलत है। समाज के साथ ज्यादती है। मैं सरकार से कहना चाहता हूं सरकार ऐसे बलात्कारियों को कभी न छोड़े। उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई करें।   उन्होंने कहा कि शिवराज जी आपका चरित्र ही समझ से परे है। कांग्रेस नेता अरुण यादव ने ट्वीट पर लिखा कि शिवराज जी आपका चरित्र ही समझ से परे है, आखिरकार आप चाहते क्या हैं-एक तरफ आप कांग्रेसके सहयोग के बाद वर्ष-2011 में बलात्कारियों के खिलाफ फांसी का अध्यादेश लाए (फांसी हुई कितनों को) दूसरी तरफ अब आपकी सरकार उम्रकैद काट रहे दुष्कर्मियों को पैरोल पर छोडऩे की पैरोकार हो गई? किस हद तक, कितना गिरेंगे आप? यही तो अंतर है मामा और कंस में?

Dakhal News

Dakhal News 18 June 2021


bhopal, purchase of moong started, MP from today , support price

भोपाल। मध्यप्रदेश में मंगलवार से ग्रीष्मकालीन मूंग की समर्थन मूल्य पर खरीदी शुरू हो गई है। निर्धारित उपार्जन केन्द्रों पर पंजीयन के माध्यम से किसान अपनी उपज सरकारी दाम पर बेच रहे हैं। इधर, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि किसानों के मेहनत की पूरी कीमत मिले, इसके लिए हम हरसंभव उपाय कर रहे हैं। किसानों का हित हमारी प्राथमिकता है।मुख्यमंत्री चौहान ने मंगलवार को ट्वीट के माध्यम से कहा है कि -मेरे किसान भाइयों-बहनों, आपने घनघोर परिश्रम करके मूंग का रिकॉर्ड उत्पादन किया है। अधिक उत्पादन होने से कीमतें घट गईं, तो हमने तत्काल न्यूनतम समर्थन मूल्य पर मूंग खरीदी का निर्णय लिया। आज से ही खरीदी प्रारंभ हो गई है। किसानों का हित हमारी प्राथमिकता है।उन्होंने अगले ट्वीट में कहा है कि - प्रदेश सरकार ने न्यूनतम समर्थन मूल्य पर मूंग की खरीदी की घोषणा की और बाजार में इसका मूल्य बढ़ने लगा। मेरे किसान भाइयों, आपके हितों की रक्षा एवं पसीने की पूरी कीमत मिले; इसके लिए हम हरसंभव उपाय कर रहे हैं और आगे भी कोई कसर नहीं छोड़ेंगे।

Dakhal News

Dakhal News 15 June 2021


bhopal, Narottam

भोपाल। मध्यप्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कांग्रेस नेता राहुल गांधी और दिग्विजय सिंह पर बड़ा हमला बोला है। उन्होंने कहा है कि हिंदुओं की आस्था के केंद्रों पर राहुल गांधी, दिग्विजय सिंह ही नहीं, पूरी कांग्रेस विवाद खड़े करती रही है। दिग्विजय सिंह आज राममंदिर पर सवाल कर रहे हैं। पहले उन्होंने कश्मीर पर आपत्तिजनक बयान दिया था। कांग्रेस का मूल मकसद सिर्फ हिंदुओं की धार्मिक आस्था के साथ छेड़छाड़ करना है।   मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने मंगलवार को मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि राम सत्य हैं, ये सत्य है। ये वही राहुल है जिनकी सरकार ने सुप्रीमकोर्ट में राम के अस्तित्व पर सवाल खड़ा किया था, मैं राहुल जी को बहस के लिए चुनौती देता हूं, मैं कमलनाथ को भी चुनौती देता हूं कि वो आएं और मुझसे राम के विषय में बहस करें। वहीं दिग्विजय सिंह के ट्वीट पर गृह मंत्री ने निशाना साधते हुए कहा कि हिंदुओं की आस्था के केंद्रों पर राहुल गांधी, दिग्विजय सिंह ही नहीं, पूरी कांग्रेस विवाद खड़े करती रही है। दिग्विजय सिंह आज राममंदिर पर सवाल कर रहे हैं। पहले उन्होंने कश्मीर पर आपत्तिजनक बयान दिया था। कांग्रेस का मूल मकसद सिर्फ हिंदुओं की धार्मिक आस्था के साथ छेड़छाड़ करना है।   कोरोना का ग्राफ तेजी से नीचे आ रहामंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि मध्य प्रदेश में कोरोना संक्रमण का ग्राफ तेजी से नीचे आ रहा है। पिछले 24 घंटे में 528 मरीज स्वस्थ हुए हैं। नए केस 224 हैं, संक्रमण दर अब 0.31 प्रतिशत जबकि रिकवरी दर 98.4 प्रतिशत है। 15 जिलों में कोरोना का एक भी नया मरीज नहीं मिला है। मध्य प्रदेश सरकार देश की पहली ऐसी सरकार है, जो कोरोना से पीडि़त लोगों के पक्ष में कई महत्वपूर्ण योजनाओं का ऐलान कर उनको लागू कर रही है। वहीं कांग्रेस कोरोना महामारी में भी जनहितैषी फैसलों पर सवाल उठा रही है और हर मुद्दे पर सिर्फ राजनीति कर रही है।

Dakhal News

Dakhal News 15 June 2021


bhopal, Narottam

भोपाल। मध्यप्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कांग्रेस नेता राहुल गांधी और दिग्विजय सिंह पर बड़ा हमला बोला है। उन्होंने कहा है कि हिंदुओं की आस्था के केंद्रों पर राहुल गांधी, दिग्विजय सिंह ही नहीं, पूरी कांग्रेस विवाद खड़े करती रही है। दिग्विजय सिंह आज राममंदिर पर सवाल कर रहे हैं। पहले उन्होंने कश्मीर पर आपत्तिजनक बयान दिया था। कांग्रेस का मूल मकसद सिर्फ हिंदुओं की धार्मिक आस्था के साथ छेड़छाड़ करना है।   मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने मंगलवार को मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि राम सत्य हैं, ये सत्य है। ये वही राहुल है जिनकी सरकार ने सुप्रीमकोर्ट में राम के अस्तित्व पर सवाल खड़ा किया था, मैं राहुल जी को बहस के लिए चुनौती देता हूं, मैं कमलनाथ को भी चुनौती देता हूं कि वो आएं और मुझसे राम के विषय में बहस करें। वहीं दिग्विजय सिंह के ट्वीट पर गृह मंत्री ने निशाना साधते हुए कहा कि हिंदुओं की आस्था के केंद्रों पर राहुल गांधी, दिग्विजय सिंह ही नहीं, पूरी कांग्रेस विवाद खड़े करती रही है। दिग्विजय सिंह आज राममंदिर पर सवाल कर रहे हैं। पहले उन्होंने कश्मीर पर आपत्तिजनक बयान दिया था। कांग्रेस का मूल मकसद सिर्फ हिंदुओं की धार्मिक आस्था के साथ छेड़छाड़ करना है।   कोरोना का ग्राफ तेजी से नीचे आ रहामंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि मध्य प्रदेश में कोरोना संक्रमण का ग्राफ तेजी से नीचे आ रहा है। पिछले 24 घंटे में 528 मरीज स्वस्थ हुए हैं। नए केस 224 हैं, संक्रमण दर अब 0.31 प्रतिशत जबकि रिकवरी दर 98.4 प्रतिशत है। 15 जिलों में कोरोना का एक भी नया मरीज नहीं मिला है। मध्य प्रदेश सरकार देश की पहली ऐसी सरकार है, जो कोरोना से पीडि़त लोगों के पक्ष में कई महत्वपूर्ण योजनाओं का ऐलान कर उनको लागू कर रही है। वहीं कांग्रेस कोरोना महामारी में भी जनहितैषी फैसलों पर सवाल उठा रही है और हर मुद्दे पर सिर्फ राजनीति कर रही है।

Dakhal News

Dakhal News 15 June 2021


bhopal, Narottam retaliated , Digvijay Singh,  anti-India thinking

भोपाल। धारा 370 मामले में भाजपा नेताओं का पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह खिलाफ बयानबाजी का दौरा जारी है। मप्र के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने दिग्विजय सिंह के विवादित बयान पर पलटवार करते हुए कहा कि धारा 370 को लेकर दिग्विजय सिंह के परिवार में ही विरोध हो रहा है। कथित वायरल चैट से साबित हो गया कि दिग्विजय भारत विरोधी सोच रखते हैं।   मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि 370 हटाने के बाद कही हिन्दू कश्मीर में फिर बस न जाएं इसलिए दिग्विजय भ्रम पैदा किया। जम्मू-कश्मीर से धारा 370 हटने के बाद कश्मीरी पंडित फिर वापस कश्मीर लौट रहे हैं जो दिग्विजय सिंह जैसे नेता बर्दाश्त नहीं कर पा रहे हैं। दिग्विजय सिंह धारा 370 का समर्थन कर कश्मीरी पंडितों और हिंदूओं को डरा रहे हैं। कांग्रेस और दिग्विजय सिंह कश्मीर को फिर अस्थिर करना चाहते हैं।   गृह मंत्री डॉ नरोत्तम मिश्रा ने कांग्रेस पर वैक्सीन को लेकर भ्रम फैलाने का भी आरोप लगाया है। कहा कि दिग्विजय वैक्सीन को लेकर भ्रम फैला रहे। आज तक राहुल गांधी ने वैक्सीन नहीं लगवाई है। कांग्रेस कह रही वैक्सीनेशन के बाद चम्मच चिपक रही है। जबकि ये सब अफवाह है। वो तो सिमी आतंकी भी मना कर रहे हैं। आतंकी कहते हैं कि हमारा धर्म ऐसी इजाजत नहीं देता। ये भारत विरोधी सोच है, चाहे सिमी की हो या दिग्विजय सिंह की। दोनों एक समान है। दिग्विजय ने कश्मीर को देश से काटने का प्रयास किया है। वो सिर्फ और सिर्फ हिंदुओं में भय पैदा करना चाहते हैं।   भाजपा मुस्लिम  नहीं आतंकवाद की सोच के खिलाफइसके अलावा दिग्विजय सिंह द्वारा आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत से बयान की तुलना पर गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि आरएसएस के मुखिया आदरणीय मोहन भागवत जी के बयानों की तुलना दिग्विजय सिंह जी से करना निरर्थक है। भागवत जी या भाजपा मुसलमानों की विरोधी नहीं हैं। हमारा विरोध उस मानसिकता और विचारों से है, जो देश में रहकर पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाते हैं और आतंकवाद को पनाह देते हैं।

Dakhal News

Dakhal News 14 June 2021


bhopal, Narottam retaliated , Digvijay Singh,  anti-India thinking

भोपाल। धारा 370 मामले में भाजपा नेताओं का पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह खिलाफ बयानबाजी का दौरा जारी है। मप्र के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने दिग्विजय सिंह के विवादित बयान पर पलटवार करते हुए कहा कि धारा 370 को लेकर दिग्विजय सिंह के परिवार में ही विरोध हो रहा है। कथित वायरल चैट से साबित हो गया कि दिग्विजय भारत विरोधी सोच रखते हैं।   मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि 370 हटाने के बाद कही हिन्दू कश्मीर में फिर बस न जाएं इसलिए दिग्विजय भ्रम पैदा किया। जम्मू-कश्मीर से धारा 370 हटने के बाद कश्मीरी पंडित फिर वापस कश्मीर लौट रहे हैं जो दिग्विजय सिंह जैसे नेता बर्दाश्त नहीं कर पा रहे हैं। दिग्विजय सिंह धारा 370 का समर्थन कर कश्मीरी पंडितों और हिंदूओं को डरा रहे हैं। कांग्रेस और दिग्विजय सिंह कश्मीर को फिर अस्थिर करना चाहते हैं।   गृह मंत्री डॉ नरोत्तम मिश्रा ने कांग्रेस पर वैक्सीन को लेकर भ्रम फैलाने का भी आरोप लगाया है। कहा कि दिग्विजय वैक्सीन को लेकर भ्रम फैला रहे। आज तक राहुल गांधी ने वैक्सीन नहीं लगवाई है। कांग्रेस कह रही वैक्सीनेशन के बाद चम्मच चिपक रही है। जबकि ये सब अफवाह है। वो तो सिमी आतंकी भी मना कर रहे हैं। आतंकी कहते हैं कि हमारा धर्म ऐसी इजाजत नहीं देता। ये भारत विरोधी सोच है, चाहे सिमी की हो या दिग्विजय सिंह की। दोनों एक समान है। दिग्विजय ने कश्मीर को देश से काटने का प्रयास किया है। वो सिर्फ और सिर्फ हिंदुओं में भय पैदा करना चाहते हैं।   भाजपा मुस्लिम  नहीं आतंकवाद की सोच के खिलाफइसके अलावा दिग्विजय सिंह द्वारा आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत से बयान की तुलना पर गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि आरएसएस के मुखिया आदरणीय मोहन भागवत जी के बयानों की तुलना दिग्विजय सिंह जी से करना निरर्थक है। भागवत जी या भाजपा मुसलमानों की विरोधी नहीं हैं। हमारा विरोध उस मानसिकता और विचारों से है, जो देश में रहकर पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाते हैं और आतंकवाद को पनाह देते हैं।

Dakhal News

Dakhal News 14 June 2021


bhopal, Digvijay Singh

भोपाल। वरिष्ठ कांग्रेस नेता और राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह के जम्मू-कश्मीर में दोबारा आर्टिकल 370 लागू करने के बयान को लेकर सियासी घमासान मचा हुआ है। भाजपा दिग्विजय सिंह के बयान पर लगातार हमला बोल रही है। वहीं अब उनके परिवार में ही बयान को लेकर फूट देखने को मिल रही है। दिग्विजय सिंह के छोटे भाई और विधायक लक्ष्मण सिंह और उनकी पत्नी रुबीना सिंह ने भी अपनी प्रतिक्रिया दी है।   लक्ष्मण सिंह ने ट्वीट कर दिग्विजय सिंह के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि कश्मीर में दोबारा धारा 370 लागू करना संभव नहीं है। हां लेकिन सच यह भी है कि धारा 370 का समर्थन करने वाले फारूख अब्दुल्ला एनडीए की सरकार में मंत्री रह चुके हैं, जबकि महबूबा मुफ्ती का समर्थन भाजपा कर चुकी है। बता दें कि यह पहला मौका नहीं है जब लक्ष्मण सिंह ने पार्टी लाइन से हटकर कुछ कहा हो, इसस पहले भी वह अपनी ही पार्टी कांग्रेस के खिलाफ बयान जारी कर चुके हैं। वहीं इस पूरे मामले पर दिग्विजय सिंह के बेटे जयवर्धन सिंह उनके बयान से न तो सहमत दिखे और न असहमत। उन्होंने सोशल मीडिया पर लिखा कि अगल चुनाव आर्टिकल 370 पर नहीं बल्कि बढ़ती महंगाई, बेरोजगारी और कोरोना के कारण देश में जो तबाही हुई है, इन मुद्दों पर लड़ा जाएगा।   लक्ष्मण सिंह की पत्नी रूबीना सिंह ने भी साधा निशाना लक्ष्मण सिंह की पत्नी रूबीना सिंह ने भी दिग्विजय सिंह के बयान को अनावश्यक बताया। उन्होंने सोशल मीडिया पर लिखा कि कश्मीरी पंडितों और तथाकथित आरक्षण के बारे में बोले गए शब्द दुर्भाग्यपूर्ण हैं। यह सब सीमा पार के एक पत्रकार से कहा गया। एक ऐसा राष्ट्र जिसने हमें शांति से रहने नहीं दिया। मानो हमने पर्याप्त कष्ट नहीं उठाया हो। हानिकारक और अनावश्यक। बता दें कि रूबीना सिंह कश्मीरी पंडित हैं। वे कैंसर पीडि़तों की काउंसलिंग भी करती हैं।

Dakhal News

Dakhal News 13 June 2021


bhopal, Scindia

भोपाल। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की कैबिनेट में जल्द ही विस्तार किया जा सकता है। माना जा रहा है कि संसद के मानसून सत्र से पहले ही कैबिनेट विस्तार संभव है। केन्द्रीय कैबिनेट के विस्तार के साथ ही मध्य प्रदेश में कमलनाथ सरकार का तख्तापलट कराने में अहम भूमिका निभाने वाले ज्योतिरादित्य सिंधिया का इंतजार भी खत्म हो सकता है। सिंधिया को मोदी सरकार में बड़ी जिम्मेदारी मिल सकती है।  दरअसल सिंधिया के करीबी एक वरिष्ठ नेता के हवाले से बताया जा रहा है कि ज्योतिरादित्य सिंधिया को रेल मंत्री बनाया जा सकता है। इसके साथ ही सिंधिया को शहरी विकास या मानव संसाधन जैसे अहम मंत्रालय भी दिए जा सकते हैं। सिंधिया भी इन दिनों खासे एक्टिव दिखाई दे रहे हैं और भाजपा के नेताओं से मुलाकात कर रहे हैं। उन्हें भाजपा में शामिल हुए 15 महीने हो चुके हैं। अब भाजपा उनसे किया वादा पूरा करने जा रही है। इसके संकेत दिल्ली से लेकर मध्यप्रदेश तक हैं।   जानकारों का मानना है कि मोदी ज्योतिरादित्य को कैबिनेट मंत्री बनाएंगे। इसकी वजह यह है कि मनमोहन सरकार में भी उन्होंने अपने कामों के चलते एक एक्टिव मंत्री की छवि बनाई थी। इस बार वे टीम मोदी में शामिल होते हैं, तो फिर वे अपना काम दिखा पाएंगे। उनकी क्षमताओं का लाभ उन्हें प्रस्तावित फेरबदल में मिलने की पूरी संभावना है। ज्योतिरादित्य सिंधिया कांग्रेस में रहने के दौरान मनमोहन सरकार में भी अहम मंत्रालयों की जिम्मेदारी संभाल चुके हैं। सिंधिया ने मनमोहन सरकार में टेलीकॉम, आईटी इंडस्ट्रीज जैसे अहम मंत्रालय संभाले थे। यही वजह है कि मोदी सरकार भी उन्हें कोई बड़ी जिम्मेदारी दे सकती है। मोदी कैबिनेट का विस्तार जून के अंत में या फिर अगले महीने की शुरुआत में संभव है। 

Dakhal News

Dakhal News 13 June 2021


bhopal, One Earth-One Health Mantra ,inspire humanity to unite, CM Shivraj

भोपाल। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने जी-7 समिट-2021 की बैठक में वैश्विक समुदाय को "वन अर्थ-वन हेल्थ" अर्थात एक पृथ्वी-एक स्वास्थ्य का मंत्र दिया है। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने इस मंत्र को मानवता को एकजुट करने के लिए प्रेरित करने वाला बताया है। साथ ही विश्व समुदाय के आत्मीय मार्गदर्शन करने के लिए प्रधानमंत्री मोदी का आभार जताया है।मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने रविवार को सिलसिलेवार ट्वीट के माध्यम से कहा है कि -'वसुधैव कुटुम्बकम्' भारत देश की संस्कृति का परिचायक रहा है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी ने जी-7 समिट-2021 की बैठक में वैश्विक समुदाय को "वन अर्थ-वन हेल्थ" का मंत्र दिया है। समग्र समाज के सहयोग से ही विश्व पटल से #COVID19 महामारी को समाप्त किया जा सकता है।उन्होंने अगले ट्वीट में लिखा है कि कोविड-19 महामारी और इस प्रकार के अन्य संकटों से लड़ने के लिये 'एक पृथ्वी-एक स्वास्थ्य' का प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी का मंत्र मानवता को एकजुट करने के लिये प्रेरित करेगा। सीएम शिवराज ने लिखा है कि प्राणियों में सद्भावना हो, विश्व का कल्याण हो, यह भारत की अक्षुण्ण परंपरा रही है। यह तभी संभव होगा जब सम्पूर्ण विश्व एकजुट होकर 'एक पृथ्वी-एक स्वास्थ्य' भावना से  आगे बढ़े। आत्मीय मार्गदर्शन करने हेतु प्रधानमंत्री मोदी जी का हार्दिक आभार।मुख्यमंत्री ने टोसिलिजुमैब इंजेक्शन को टैक्स फ्री करने पर जताया प्रधानमंत्री का आभारवहीं, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने टोसिलिजुमैब इंजेक्शन को टैक्स फ्री करने पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का आभार जताया है। उन्होंने रविवार को ट्वीट करते हुए कहा है कि कोरोना महामारी के संकट में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी ने आगे रहकर देश का नेतृत्व किया है। देश के नागरिकों के लिये निशुल्क वैक्सीन के निर्णय के साथ प्रधानमंत्री जी की अगुवाई में अब ब्लैक फंगस के इलाज में काम आने वाला एम्फोटेरेसिन बी को टैक्स फ्री कर दिया है।मुख्यमंत्री ने अगले ट्वीट में कहा है कि जीएसटी काउंसिल ने कोरोना के इलाज में काम आने वाले इंजेक्शन टोसिलिजुमैब को भी टैक्स फ्री करने का फैसला लिया है। साथ ही रेमेडिसिविर और ऑक्सीजन कंसंट्रेटर जैसे उपकरणों पर टैक्स दर घटा दी गयी है। जनकल्याणकारी इन निर्णयों के लिये प्रधानमंत्री जी का हृदय से आभार।

Dakhal News

Dakhal News 13 June 2021


bhopal, One Earth-One Health Mantra ,inspire humanity to unite, CM Shivraj

भोपाल। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने जी-7 समिट-2021 की बैठक में वैश्विक समुदाय को "वन अर्थ-वन हेल्थ" अर्थात एक पृथ्वी-एक स्वास्थ्य का मंत्र दिया है। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने इस मंत्र को मानवता को एकजुट करने के लिए प्रेरित करने वाला बताया है। साथ ही विश्व समुदाय के आत्मीय मार्गदर्शन करने के लिए प्रधानमंत्री मोदी का आभार जताया है।मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने रविवार को सिलसिलेवार ट्वीट के माध्यम से कहा है कि -'वसुधैव कुटुम्बकम्' भारत देश की संस्कृति का परिचायक रहा है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी ने जी-7 समिट-2021 की बैठक में वैश्विक समुदाय को "वन अर्थ-वन हेल्थ" का मंत्र दिया है। समग्र समाज के सहयोग से ही विश्व पटल से #COVID19 महामारी को समाप्त किया जा सकता है।उन्होंने अगले ट्वीट में लिखा है कि कोविड-19 महामारी और इस प्रकार के अन्य संकटों से लड़ने के लिये 'एक पृथ्वी-एक स्वास्थ्य' का प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी का मंत्र मानवता को एकजुट करने के लिये प्रेरित करेगा। सीएम शिवराज ने लिखा है कि प्राणियों में सद्भावना हो, विश्व का कल्याण हो, यह भारत की अक्षुण्ण परंपरा रही है। यह तभी संभव होगा जब सम्पूर्ण विश्व एकजुट होकर 'एक पृथ्वी-एक स्वास्थ्य' भावना से  आगे बढ़े। आत्मीय मार्गदर्शन करने हेतु प्रधानमंत्री मोदी जी का हार्दिक आभार।मुख्यमंत्री ने टोसिलिजुमैब इंजेक्शन को टैक्स फ्री करने पर जताया प्रधानमंत्री का आभारवहीं, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने टोसिलिजुमैब इंजेक्शन को टैक्स फ्री करने पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का आभार जताया है। उन्होंने रविवार को ट्वीट करते हुए कहा है कि कोरोना महामारी के संकट में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी ने आगे रहकर देश का नेतृत्व किया है। देश के नागरिकों के लिये निशुल्क वैक्सीन के निर्णय के साथ प्रधानमंत्री जी की अगुवाई में अब ब्लैक फंगस के इलाज में काम आने वाला एम्फोटेरेसिन बी को टैक्स फ्री कर दिया है।मुख्यमंत्री ने अगले ट्वीट में कहा है कि जीएसटी काउंसिल ने कोरोना के इलाज में काम आने वाले इंजेक्शन टोसिलिजुमैब को भी टैक्स फ्री करने का फैसला लिया है। साथ ही रेमेडिसिविर और ऑक्सीजन कंसंट्रेटर जैसे उपकरणों पर टैक्स दर घटा दी गयी है। जनकल्याणकारी इन निर्णयों के लिये प्रधानमंत्री जी का हृदय से आभार।

Dakhal News

Dakhal News 13 June 2021


bhopal, 718 new cases , corona surfaced , MP, 38 people died

भोपाल। मध्यप्रदेश से कोरोना को लेकर बड़ी राहत भरी खबर है। यहां रोजाना कोरोना संक्रमण के नये मामलों में लगातार कमी देखने को मिल रही है। प्रदेश में कोरोना संक्रमण के मामले सैकड़ा में आ गये है। यहां बीते 24 घंटों में कोरोना के 718 नये मामले सामने आए हैं, जबकि 38 लोगों की मौत हुई है। इसके बाद राज्य में संक्रमितों की कुल संख्या 07 लाख, 84 हजार, 461 और मृतकों की संख्या 8295 हो गई है। यह जानकारी स्वास्थ्य विभाग द्वारा शनिवार देर शाम जारी कोरोना से संबंधित हेल्थ बुलेटिन में दी गई।   नये मामलों में इंदौर- 223, भोपाल- 171, ग्वालियर- 13, जबलपुर- 61, उज्जैन- 13, सागर- 16, खरगौन- 09, रतलाम- 12, रीवा- 09, बैतूल- 15, विदिशा- 08, धार- 08, सतना- 06, नरसिंहपुर- 02, होशंगाबाद- 08, बड़वानी- 07, शिवपुरी- 05, कटनी- 05, शहडोल- 01, बालाघाट- 08, झाबुआ- 01, सीहोर- 07, छिंदवाड़ा- 04, राजगढ़- 09, रायसेन- 09, मुरैना- 06, नीमच- 03, मंदसौर- 01, देवास- 04, दमोह- 09, शाजापुर- 05, छतरपुर- 01, अनूपपुर- 06, सिंगरौली- 02, सिवनी- 03, सीधी- 02, टीकमगढ़- 03, दतिया-04, गुना- 08, खंडवा- 01, पन्ना- 04, उमरिया-04, हरदा- 07, मंडला- 00, अलिराजपुर- 00, डिंडौरी-05, अशोकनगर-00, श्योपुर- 05, भिंड- 00, बुरहानपुर- 00, आगरमालवा- 00, निवाड़ी- 05 मरीज मिले हैं। आज प्रदेश के 46 जिलों में कोरोना के प्रकरण पाये गए।  मंडला, अशोकनगर, अलिराजपुर, आगरमालवा, भिंड और बुरहानपुर जिले में शनिवार को कोरोना संक्रमण के एक भी पॉजिटिव मामले सामने नहीं आए है।   बुलेटिन के अनुसार, आज प्रदेशभर में 81,812 सेम्पलों की जांच रिपोर्ट प्राप्त हुई। इनमें 718 पॉजिटिव और 81,094 रिपोर्ट निगेटिव आईं, जबकि 204 सेम्पल रिजेक्ट हुए। पाजिटिव प्रकरणों का प्रतिशत 0.8 रहा। इसके बाद राज्य में संक्रमित मरीजों की कुल संख्या बढकऱ 07,84, 461 हो गई है। इनमें सबसे अधिक इंदौर में 151272, भोपाल- 121814, ग्वालियर- 52967, जबलपुर- 50150, उज्जैन- 18783, सागर- 16469, खरगौन- 13845, रतलाम- 17716, रीवा- 16359, बैतूल- 12743, विदिशा- 11857, धार- 12464, सतना- 11929, नरसिंहपुर- 11165, बड़वानी- 8320, होशंगाबाद- 10593, शिवपुरी- 12364, कटनी- 9355, बालाघाट- 9052, शहडोल- 10058, छिंदवाड़ा- 6676, झाबुआ- 7667, सिहोर- 10102, राजगढ़- 8562, रायसेन- 9157, नीमच- 7880, मुरैना- 8213, मंदसौर- 8587, देवास- 7707, शाजापुर- 6299, दमोह- 8057, छतरपुर- 7576, अनूपपुर- 9183, सिवनी- 6728, सिंगरौली- 8775, सीधी- 9200, टीकमगढ़- 6851, दतिया- 6919, खंडवा- 4033, गुना- 5115, पन्ना- 7257, उमरिया- 6268, हरदा- 5000, मंडला- 5176, अलिराजपुर- 3495, डिंडौरी- 4603, अशोकनगर- 3635, श्योपुर- 3981, भिंड- 2989, बुरहानपुर- 2558, आगरमालवा- 3273, निवाड़ी- 3664 मरीज शामिल हैं।   राज्य में आज कोरोना से 38 मरीजों की मौत की पुष्टि हुई है। मृतकों में इंदौर, बैतूल, शिवपुरी, सतना और राजगढ़ में दो, भोपाल, ग्वालियर, जबलपुर और रीवा में तीन, सागर में सात, दामोह में चार, खरगौन, बड़वानी, टीकमगढ़, शाजापुर और उमरिया जिले के एक-एक मरीज शामिल है। इसके बाद राज्य में मृतकों की संख्या बढकऱ 8295 हो गई है।         मृतकों में सबसे अधिक इंदौर- 1353, भोपाल- 948, ग्वालियर- 596, जबलपुर- 623, उज्जैन- 171, सागर- 304, खरगौन- 224, रतलाम- 308, रीवा- 128, बैतूल- 211, विदिशा- 217, धार- 126, सतना- 119, नरसिंहपुर- 80, बड़वानी- 86, होशंगाबाद- 97, शिवपुरी- 117, कटनी- 109, बालाघाट- 64, शहडोल- 117, छिंदवाड़ा- 120, झाबुआ- 53, सिहोर- 52, राजगढ़- 122, रायसेन- 187, नीमच- 84, मुरैना- 84, मंदसौर- 84, देवास- 49, शाजापुर- 55, दमोह- 175, छतरपुर- 91, अनूपपुर- 81, सिवनी- 28, सिंगरौली- 77, सीधी- 87, टीकमगढ़- 108, दतिया- 77, खंडवा- 94, गुना- 44, पन्ना- 57, उमरिया- 59, हरदा- 92, मंडला- 17, अलिराजपुर- 47, डिंडौरी- 28, अशोकनगर- 31, श्योपुर- 63, भिंड- 29, बुरहानपुर- 38, आगरमालवा- 38, निवाड़ी- 46 व्यक्ति शामिल है।   बुलेटिन के अनुसार, राज्य में अब तक 7,64,822 मरीज कोरोना को मात देकर अपने घर पहुंच चुके हैं। इनमें 2225 मरीज शनिवार को स्वस्थ हुए। अब यहां कोरोना के सक्रिय प्रकरण 11344 हो गए हैं। बता दें कि मप्र में फरवरी के दूसरे सप्ताह में सक्रिय प्रकरण एक हजार के नीचे पहुंच गए थे, लेकिन स्वस्थ होने वाले मरीजों की तुलना में नये मामले अधिक संख्या में आने के कारण यहां सक्रिय प्रकरण लगातार बढ़ते जा रहे थे। हांलाकि अब सक्रिय मामलों में भी धीरे धीरे कमी देखने को मिल रही है। 

Dakhal News

Dakhal News 5 June 2021


satna, Kamal Nath targets , central and state government, encircles Shivraj government

सतना। मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ शुक्रवार को मैहर पहुंचे। यहां उन्होंने कोरोना प्रोटोकॉल के कारण मैहर मंदिर के गेट पर ही पुरोहितों की मौजूदगी में पूजा अर्चना की। इसके बाद सर्किट हाउस में पत्रकार वार्ता को संबोधित किया। उन्होंने बाबा अलाउद्दीन खां मैहर कला अकादमी के सदस्य व नलतरंग वादक प्रभूदयाल द्विवेदी के निधन पर घर पहुंचकर शोक  व्यक्त किया। इसके बाद कांग्रेस पदाधिकारी रहे मनीष चतुर्वेदी के घर पहुंचकर शोक जताया। वे करीब 1 बजे जबलपुर रवाना हो गए।   सतना में पत्रकारों से बातचीत करते हुए पूर्व सीएम कमलनाथ ने राज्य और केंद्र की भाजपा सरकार पर जमकर निशाना साधा। कमलनाथ ने कोविड से हुई मौतों पर एक बार फिर शिवराज सरकार को घेरा। उन्होंने कहा कि प्रदेश में डेढ़ लाख शव श्मशान पहुंचे हैं। इनमें से 80 प्रतिशत शवों का अंतिम संस्कार कोविड प्रोटोकॉल से किया गया है। जनता को दिखाई देने वाले सरकारी आंकड़े झूठे हैं। उन्होंने कहा कि सरकार श्मशान घाटों और कब्रिस्तान के रजिस्टर जनता के सामने रखे, जनता सच्चाई का साथ दे, मैं सच्चाई दिखाता हूं तो एफआईआर करते हैं, मैं सवाल पूछता हूं तो देशद्रोही बोलते हैं, केंद्र सरकार ने खुद सुप्रीम कोर्ट में वायरस को इंडियन म्यूटेंट कोविड बताया था।   कमलनाथ ने सीएम शिवराज पर तंज कसते हुए कहा कि उन्हें मुंबई जाना चाहिए। वे एक्टिंग अच्छी कर लेते हैं। इससे मध्य प्रदेश का नाम रोशन होगा। इसके बाद उन्होंने केन्द्र सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि मोदी जी ने भारत को बदनाम कर दिया है, इसलिए भारतीयों पर विश्व ने आने-जाने पर रोक लगा दी गई है। विदेशों में भारतीयों की ऐसी छवि बन गई है कि टैक्सी में कोई बैठने को तैयार नहीं है।इसके साथ ही पूर्व सीएम कमलनाथ ने एफिडेविट अभियान भी शुरू किया। उन्होंने कहा कि जिनके घरों में कोविड से मौतें हुई वो एफिडेविट भरकर दें, मैं एफिडेविट का ड्राफ्ट दे रहा हूं। उन्होंने कहा कि एफिडेविट मिलने पर मृतकों को 5 लाख मुआवजा दे सरकार, एफिडेविट गलत होने पर सरकार कार्रवाई को स्वतंत्र है। उन्होंने कहा कि कोई भी नागरिक मेरे अभियान से जुड़ सकता है, मैं केवल सच्चाई सामने लाना चाहता हूं। इसके अलावा कमलनाथ ने कहा कि नकली रेमडेसिविर कांड की उच्चस्तरीय जांच हो। सरकार बताए प्रदेश के कितने अस्पतालों में कैसे नकली इंजेक्शन पहुंचे? नकली इंजेक्शन से कितने मरीजों की जान गई? सतना के रामचन्द अग्रवाल को भी नकली रेमडेसिविर लगने की शिकायत मिली।    कमलनाथ ने प्रधानमंत्री मोदी से भी हिसाब मांगा। उन्होंने कहा कि 30 मई को सरकार के 7 साल होने पर देश को पीएम मोदी जवाब दें, पीएम केयर फंड भी नारा बनकर रह गया। पीएम केयर फंड से आये खराब वेन्टीलेटर्स ने कितनी जान लीं? वेन्टीलेटर्स खरीदी में कितना कमीशन लिया गया।

Dakhal News

Dakhal News 28 May 2021


bhopal, state government , doing everything possible, help poor families, Shivraj

भोपाल। कोरोना के कारण उत्पन्न परिस्थितियों में गरीब परिवारों की सहायता के लिए राज्य सरकार हर संभव प्रयास कर रही है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा दो माह का और राज्य सरकार द्वारा तीन माह का राशन उपलब्ध कराया गया है। सभी पात्र हितग्राहियों को नि:शुल्क राशन का वितरण हो जाए, यह सुनिश्चित किया जाए कि शहर में कोई भूखा न सोए। तेंदूपत्ता तुड़ाई के दौरान भी कोरोना से बचाव के लिए आवश्यक सावधानियों का पालन किया जाए। यह कहना है मुख्‍यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का।    उन्‍होंने शुक्रवार कहा कि निर्माण श्रमिकों और स्व-सहायता समूहों के खातों में राशि जारी की जा रही है। मुख्यमंत्री ने कहा कि जिन परिवारों में कोविड से मृत्यु हुई है उन्हें एक लाख रुपये की सहायता देने का निर्णय भी लिया गया है। वे एक बैठक में यह सभी बातें कह रहे थे।    गरीब एवं मध्यमवर्गीय परिवारों का नि:शुल्क कोविड इलाज सुनिश्चित करें मुख्यमंत्री ने कहा कि इस समय सबसे पहली प्राथमिकता है लोगों की जान बचाना। उन्होंने कहा कि कोरोना शरीर के साथ-साथ आर्थिक रूप से भी तोड़ देता है। मुख्यमंत्री कोविड उपचार योजना के तहत सभी गरीब एवं मध्यमवर्गीय परिवारों का नि:शुल्क कोविड इलाज कराना सुनिश्चित करें।   कोविड में अनाथ हुए बच्चों की जिम्मेदारी चौहान ने कहा कि कोविड से जिन बच्चों के माता-पिता तथा अभिभावकों की मृत्यु हो गयी है उनके पालन-पोषण की जिम्मेदारी सरकार उठाएगी। इसके लिए योजना बनाई गई है। पात्र बच्चों को प्रतिमाह पांच हजार रुपये तथा शिक्षा में सरकार मदद करेगी। उन्होंने कहा कि कोविड में जिन शासकीय सेवकों की मृत्यु हुई है उनके बच्चों को अनुकम्पा नियुक्त दी जाएगी।   कलेक्टर ने प्रेजेंटेशन द्वारा दी जानकारी समीक्षा बैठक में सीहोर कलेक्टर चन्द्र मोहन ठाकुर ने जिले में कोविड नियंत्रण के लिए किए गए प्रयासों पर प्रेजेंटेशन दिया। कलेक्टर ने बताया कि जिले में किल-कोरोना अभियान का सफलता से संचालन किया जा रहा है। अभियान के डोर-टू-डोर सर्वे के सकारात्मक परिणाम प्राप्त हुए हैं। पॉजिटिविटी रेट में तेजी से गिरावट आई है। जिला चिकित्सालय सहित सभी स्वास्थ्य केंद्रों पर स्वास्थ्य सुविधाओं को मजबूत किया गया है। चिकित्सालयों एवं स्वास्थ्य केंद्रों पर ऑक्सीजन बेड्स और आवश्यक दवाओं की भी लगातार मॉनिटरिंग कर पर्याप्त उपलब्धता सुनिश्चित की गई है।

Dakhal News

Dakhal News 28 May 2021


bhopal,1977 new cases, corona surfaced , MP, 70 dead

भोपाल। मध्यप्रदेश से कोरोना को लेकर बड़ी राहत भरी खबर है। यहां रोजाना कोरोना संक्रमण के नये मामलों में लगातार कमी देखने को मिल रही है। यहां बीते 24 घंटों में कोरोना के 1977 नये मामले सामने आए हैं, जबकि 70 लोगों की मौत हुई है। इसके बाद राज्य में संक्रमितों की कुल संख्या 07 लाख, 73 हजार, 855 और मृतकों की संख्या 7828 हो गई है। यह जानकारी स्वास्थ्य विभाग द्वारा गुरुवार देर शाम जारी कोरोना से संबंधित हेल्थ बुलेटिन में दी गई।   नये मामलों में इंदौर- 577, भोपाल- 409, ग्वालियर- 51, जबलपुर- 99, उज्जैन- 41, सागर- 96, खरगौन- 25, रतलाम- 48, रीवा- 31, बैतूल- 34, विदिशा- 19, धार- 27, सतना- 12, नरसिंहपुर- 08, होशंगाबाद- 18, बड़वानी- 08, शिवपुरी- 29, कटनी- 10, शहडोल- 19, बालाघाट- 18, झाबुआ- 09, सीहोर- 26, छिंदवाड़ा- 05, राजगढ़- 25, रायसेन- 19, मुरैना- 27, नीमच- 19, मंदसौर- 19, देवास- 09, दमोह- 38, शाजापुर- 06, छतरपुर- 11, अनूपपुर- 25, सिंगरौली- 07, सिवनी- 16, सीधी- 20, टीकमगढ़- 12, दतिया-10, गुना- 09, खंडवा- 02, पन्ना- 18, उमरिया-08, हरदा- 06, मंडला- 06, अलिराजपुर- 04, डिंडौरी-05, अशोकनगर-11, श्योपुर- 08, भिंड- 05, बुरहानपुर- 02, आगरमालवा- 05, निवाड़ी- 06 मरीज मिले हैं। आज प्रदेश के सभी 52 जिलों में कोरोना के प्रकरण पाये गए।   बुलेटिन के अनुसार, आज प्रदेशभर में 69,606 सेम्पलों की जांच रिपोर्ट प्राप्त हुई। इनमें 1977 पॉजिटिव और 67,629 रिपोर्ट निगेटिव आईं, जबकि 1520 सेम्पल रिजेक्ट हुए। पाजिटिव प्रकरणों का प्रतिशत 02.8 रहा। इसके बाद राज्य में संक्रमित मरीजों की कुल संख्या बढक़र 07,73, 855 हो गई है। इनमें सबसे अधिक इंदौर में 147922, भोपाल- 119650, ग्वालियर- 52612, जबलपुर- 49407, उज्जैन- 18639, सागर- 16210, खरगौन- 13696, रतलाम- 17501, रीवा- 16213, बैतूल- 12583, विदिशा- 11756, धार- 12329, सतना- 11867, नरसिंहपुर- 11096, बड़वानी- 8261, होशंगाबाद- 10524, शिवपुरी- 12278, कटनी- 9333, बालाघाट- 8935, शहडोल- 9998, छिंदवाड़ा- 6615, झाबुआ- 7642, सिहोर- 9962, राजगढ़- 8458, रायसेन- 9048, नीमच- 7784, मुरैना- 8029, मंदसौर- 8501, देवास- 7657, शाजापुर- 6257, दमोह- 7889, छतरपुर- 7530, अनूपपुर- 9046, सिवनी- 6638, सिंगरौली- 8740, सीधी- 9089, टीकमगढ़- 6813, दतिया- 6879, खंडवा- 4020, गुना- 5031, पन्ना- 7202, उमरिया- 6209, हरदा- 4969, मंडला- 5158, अलिराजपुर- 3482, डिंडौरी- 4570, अशोकनगर- 3577, श्योपुर- 3888, भिंड- 2966, बुरहानपुर- 2545, आगरमालवा- 3258, निवाड़ी- 3593 मरीज शामिल हैं।   राज्य में आज कोरोना से 70 मरीजों की मौत की पुष्टि हुई है। मृतकों में इंदौर, सागर, बैतूल और विदिशा में चार, भोपाल, रीवा, दमोह, छतरपुर और कटनी में तीन, रायसेन में छह, ग्वालियर और जबलपुर में आठ, रतलाम, सतना, पन्ना, भिंड और नरसिंहपुर में दो, खरगौन, बड़वानी, उमरिया, हरदा, श्योपुर, टीकमगढ़ और शहडोल जिले के एक-एक मरीज शामिल है। इसके बाद राज्य में मृतकों की संख्या बढक़र 7828 हो गई है।        मृतकों में सबसे अधिक इंदौर- 1327, भोपाल- 924, ग्वालियर- 556, जबलपुर- 579, उज्जैन- 169, सागर- 253, खरगौन- 217, रतलाम- 300, रीवा- 105, बैतूल- 176, विदिशा- 178, धार- 123, सतना- 107, नरसिंहपुर- 76, बड़वानी- 83, होशंगाबाद- 97, शिवपुरी- 102, कटनी- 105, बालाघाट- 60, शहडोल- 117, छिंदवाड़ा- 120, झाबुआ- 52, सिहोर- 49, राजगढ़- 112, रायसेन- 182, नीमच- 84, मुरैना- 78, मंदसौर- 81, देवास- 46, शाजापुर- 52, दमोह- 150, छतरपुर- 87, अनूपपुर- 74, सिवनी- 28, सिंगरौली- 73, सीधी- 85, टीकमगढ़- 103, दतिया- 74, खंडवा- 94, गुना- 44, पन्ना- 55, उमरिया- 57, हरदा- 84, मंडला- 17, अलिराजपुर- 45, डिंडौरी- 28, अशोकनगर- 26, श्योपुर- 57, भिंड- 25, बुरहानपुर- 37, आगरमालवा- 32, निवाड़ी- 43 व्यक्ति शामिल है।   बुलेटिन के अनुसार, राज्य में अब तक 7,27,700 मरीज कोरोना को मात देकर अपने घर पहुंच चुके हैं। इनमें 6845 मरीज गुरुवार को स्वस्थ हुए। अब यहां कोरोना के सक्रिय प्रकरण 38327 हो गए हैं। बता दें कि मप्र में फरवरी के दूसरे सप्ताह में सक्रिय प्रकरण एक हजार के नीचे पहुंच गए थे, लेकिन स्वस्थ होने वाले मरीजों की तुलना में नये मामले अधिक संख्या में आने के कारण यहां सक्रिय प्रकरण लगातार बढ़ते जा रहे थे। हांलाकि अब सक्रिय मामलों में भी धीरे धीरे कमी देखने को मिल रही है।

Dakhal News

Dakhal News 27 May 2021


bhopal, Digvijay ,wrote a letter, CM Shivraj

भोपाल। मध्य प्रदेश के पूर्व सीएम और कांग्र्रेस राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को पत्र लिखा है। उन्होंने अपने पत्र के माध्यम से संविदा स्वास्थ्य कर्मियों की मांगों को पूरा करने का आग्रह किया है।   दिग्विजय सिंह ने अपने पत्र में कहा है कि मध्यप्रदेश में राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के अंतर्गत कार्यरत 19 हजार संविदा स्वास्थ्य कर्मचारी, जिनमें आयुष चिकित्सक, फार्मासिस्ट, लैब टेक्निशयन, स्टॉफ नर्स, ए.एन.एम., डाटा मेनेजर तथा अन्य समस्त पैरामेडिकल स्टॉफ शामिल है, ये सभी लोग लंबे समय से संविदा पर पदस्थ रहते हुये स्वास्थ्य सेवाएं दे रहे है। इन सभी स्वास्थ्य कर्मचारियों ने मार्च 2020 के बाद प्रदेश में कोरोना महामारी से निपटने के लिये अपना अमूल्य योगदान दिया है। अनेक कर्मचारियों के ड्यूटी के दौरान संक्रमित होने के कारण उन्होने अपना तथा अपने परिवार के अनेक लोगों का जीवन खो दिया है। ये संविदा स्वास्थ्य कर्मचारी कोरोना योद्धा है जो जोखिम उठाकर न्यूनतम वेतन पर कार्य करके महामारी में लोगों का जीवन बचाने में योगदान दे रहे हैं।   पूर्व सीएम ने कहा कि मध्यप्रदेश में कार्यरत संविदा कर्मचारियों को नियमित कर्मचारियों के वेतन का 90 प्रतिशत वेतन देने के संबन्ध आपकी सरकार ने नीति बनाई थी जिसे राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन में कार्यरत कर्मचारियों के लिये अभी तक लागू नही किया गया है। विषमतम परिस्थितियों में न्यूनतम वेतन पर कार्य करने वाले इन स्वास्थ्य कर्मचारियों की उपेक्षा की जा रही है तथा इनकी मांगों पर ध्यान नही दिया जा रहा है। प्रदेश के 19 हजार संविदा स्वास्थ्य कर्मचारी सरकार के रवैये से अत्यंत क्षुब्ध और दु:खी होकर विगत 24 मई 2021 से अनिश्चित कालीन हड़ताल पर है, जिसके कारण पहले से ही कुप्रबंधन से गुजर रही मध्यप्रदेश की स्वास्थ्य सेवाएं ठप्प हो गई है। उन्होंने कहा कि इन कर्मचारियों के हड़ताल पर जाने से शहरों के साथ-साथ कस्बों और ग्रामीण क्षेत्रों में लोगों की टेस्टिंग नही हो पा रही है और न ही उन्हें समुचित चिकित्सकीय परामर्श मिल पा रहा है। ऐसे हालात में इन कर्मचारियों के प्रति असंवेदनशीलता और दुराग्रह छोडक़र उनकी मांगों का निराकरण किया जाना चाहिए।   दिग्विजय सिंह ने सरकार से आग्रह करते हुए कहा कि मेरा आपसे अनुरोध है कि राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के अंतर्गत कार्यरत 19 हजार संविदा स्वास्थ्य कर्मचारियों की समस्याओं और मॉंगों पर गंभीरता से विचार कर उनके निराकरण हेतु आवश्यक निर्देश प्रदान करने का कष्ट करें।

Dakhal News

Dakhal News 27 May 2021


bhopal,Shivraj gave ,disaster assistance ,Rs 112 crore 81 lakh, thousand workers

भोपाल। मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि आगामी एक जून से प्रदेश में धीरे-धीरे कोरोना कर्फ्यू समाप्त किया जाएगा। ऐसे में आपको पूरी सावधानी रखनी हैं। मास्क लगाना है, एक दूसरे से दूरी रखनी है, कहीं भीड़ नहीं करनी है, बार-बार हाथ धोने हैं। सबको वैक्सीन लगवाना है। इन सब सावधानियों का पालन करते हुए हम कोरोना से लड़ते भी रहेंगे और काम-धंधा भी करते रहेंगे।    मुख्यमंत्री चौहान मंगलवार को मंत्रालय से वीडियो कॉफ्रेंसिंग के माध्यम से प्रदेश के निर्माण श्रमिकों से बातचीत कर रहे थे।  चौहान ने इसके पूर्व प्रदेश के 11 लाख 28 हजार निर्माण श्रमिकों के खाते में कोविड-19 सहायता योजना के अंतर्गत 112 करोड़ 81 लाख रूपये की राशि सिंगल क्लिक के माध्यम से अंतरित की। इस अवसर पर श्रम एवं खनिज संसाधन मंत्री ब्रजेन्द्र प्रताप सिंह और संबंधित अधिकारी उपस्थित थे।   पाँच माह का नि:शुल्क राशन चौहान ने कहा कि शासन द्वारा सभी गरीबों, जिनमें निर्माण श्रमिक भी शामिल हैं, को पाँच माह का प्रति सदस्‍य पाँच-पाँच किलो प्रतिमाह नि:शुल्क राशन दिया जा रहा है, जिसमें तीन माह का राशन राज्य सरकार और दो माह का राशन केन्द्र सरकार दे रही है। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए कि यह राशन प्रत्येक गरीब को मिल जाए, यह सुनिश्चित करें।    आपका भाई आपके साथ खड़ा है  मुख्यमंत्री का कहना था कि सरकार कोविड उपचार योजना में कोरोना का नि:शुल्क इलाज कर रही है। आयुष्मान कार्डधारी व्यक्ति एवं उसके परिवार को वर्ष में पाँच लाख रूपये तक सम्बद्ध निज़ी अस्पतालों में नि:शुल्क इलाज की सुविधा दी गई है। इसके अलावा सभी शासकीय अस्पतालों एवं अनुबंधित अस्पतालों में भी कोरोना का नि:शुल्क इलाज हो रहा है। प्रदेश में कोरोना से माँ-बाप की मृत्यु पर बच्चों को पाँच हजार रूपये मासिक पेंशन देने की योजना भी चालू की गयी है। सरकार संकट के समय पूरी तरह आपके साथ है। आपका भाई आपके साथ खड़ा है।    गुस्सा तो नहीं हो अपने भाई से  मुख्यमंत्री ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से टीकमगढ़ जिले के निर्माण श्रमिक परीक्षित अहिरवार, इंदौर की शशि वर्मा, मंडला की गिरिजा वनवासी, भिंड के प्रसाद राठौर तथा सीहोर की लता मालवीय से बातचीत भी की। उन्‍होंने पूछा कि कोरोना के दौरान पाबंदियाँ लगाने पर वे अपने भाई से गुस्सा तो नहीं हैं। यदि कोरोना कर्फ्यू नहीं लगाया जाता तो प्रदेश में कोरोना संक्रमण नियंत्रित नहीं होता। यह जरूरी था। अब कोरोना नियंत्रित हो गया है, अत: हम धीरे-धीरे पाबंदियाँ खत्म करेंगे। स्थानीय क्राइसिस मैनेजमेंट समूह निर्णय करेंगे कि क्या खुले और कब-कब खुले। सभी ने कहा कि कोरोना कर्फ्यू तो ज़रूरी था। यह नहीं होता तो कोरोना नहीं जाता।    आप अपनी सुरक्षा स्वयं करें  मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि कोरोना से आपको अपने गाँव-शहर की खुद सुरक्षा करनी पड़ेगी। सारी सावधानियों का पालन करें।  साथ ही वैक्सीन जरूर लगवाएँ। यह कोरोना से बचने का सुरक्षा चक्र है। 

Dakhal News

Dakhal News 25 May 2021


bhopal, Plant saplings, Madhya Pradesh, upload photos,get awards , Chief Minister

भोपाल। जन-जन के सहयोग से प्रदेश के हरित क्षेत्र में वृद्धि कर  पर्यावरण को स्वच्छ और प्रकृति को प्राणवायु से समृद्ध करने के उद्देश्य से अंकुर कार्यक्रम आरंभ किया गया है। कार्यक्रम के अंतर्गत वृक्षारोपण के लिए जनसामान्य को प्रोत्साहित करने के उद्देश्य से पौधा लगाने वाले चयनित विजेताओं को प्राणवायु अवार्ड से सम्मानित किया जायेगा। उक्‍त बातें मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शनिवार कही है।    कार्यक्रम में भाग लेने के लिए गूगल प्ले स्टोर्स से वायु दूत एप  डाउनलोड कर पंजीयन करना होगा। कार्यक्रम में भाग लेने वाले व्यक्ति को स्वयं के संसाधन से कम से कम एक पौधा लगाकर, पौधे की फोटो एप के माध्यम से लेकर अपलोड करना होगी। पौधा लगाने के तीस दिन बाद फिर से पौधे की नई फोटो एप पर अपलोड कर सहभागिता प्रमाण पत्र डाउन लोड किया जा सकेगा। जिलेवार चयनित विजेताओं को प्राणवायु अवार्ड से सम्मानित किया जायेगा। जिसके अंतर्गत मुख्यमंत्री द्वारा प्रमाण पत्र प्रदान किया जायेगा।    सभी जिलों में होंगे नोडल अधिकारी और वेरिफायर अंकुर कार्यक्रम के क्रियान्वयन के लिए राज्य शासन द्वारा पर्यावरण नियोजन एवं समन्वय संगठन (एपको) नोडल एजेंसी बनाया गया है। जिला कलेक्टर इस कार्य के लिए जिले के वरिष्ठ अधिकारी को जिला नोडल अधिकारी नियुक्त करेंगे। जिला नोडल अधिकारी द्वारा आवश्यकतानुसार स्थानीय वेरिफायर का नामांकन कर वायुदूत एप में उनकी प्रवृष्टि की जायेगी।    कम्प्यूटराइज लाटरी द्वारा होगा विजेताओं का चयन जिले में जन अभियान परिषद के स्वयंसेवक,महाविद्यालयों के ईको क्लब प्रभारी तथा राष्ट्रीय हरित कोर योजना के मास्टर ट्रेनर में से वेरिफायर नामांकित किये जायेंगे। जिला स्तर पर कुल प्राप्त प्रविृष्टियों का 10 प्रतिशत अथवा 200 जो भी कम हो का रेंडम आधार पर जिला स्तर पर वेरिफायर्स से सत्यापन कराया जायेगा। जिला स्तर पर कुल प्राप्त हुई प्रविृष्टियों में से कम्प्यूटराइज लाटरी द्वारा विजेताओं का चयन किया जायेगा। विजेताओं की सूची वायुदूत एप में अपलोड की जायेगी।  

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


bhopal,Madhya Pradesh government, declares black fungus, disease as state epidemic

भोपाल। देशभर में कोरोना वायरस के बढ़ते संकट के बाद इसे महामारी घोषित किया गया। वहीं इस साल आई संक्रमण की दूसरी लहर के दौरान ब्लैक फंगस के मरीज भी तेजी से बढऩे लगे। जिसे देखते हुए मध्य प्रदेश सरकार ने इस बीमारी को भी राजकीय महामारी घोषित कर दिया। दो दिन पहले ही केंद्र सरकार ने राज्यों से इस बीमारी को महामारी घोषित करने के लिए कहा था। इससे पहले तमिलनाडु, ओडिशा, असम, पंजाब ने म्यूकरमाइकोसिस यानी ब्लैक फंगस को महामारी रोग अधिनियम के तहत अधिसूचित किया है।   प्रदेश के 8 मेडिकल कॉलेज में ब्लैक फंगस के मरीजों के लिए आरक्षित 420 बेड पर 361 मरीज भर्ती हैं। खास बात है, राजधानी के हमीदिया अस्पताल में ब्लैक फंगस के लिए 80 बेड आरक्षित हैं, लेकिन यहां 90 मरीज भर्ती हैं। क्राइसिस मैनेजमेंट व जिला कलेक्टरों के साथ हुई बैठक के बाद सीएम शिवराज ने एक महत्त्वपूर्ण निर्णय लिया। उन्होंने कहा कि प्रदेश में ब्लैक फंगल इन्फेक्शन को महामारी घोषित किया जाता है। इस बीमारी से जूझ रहे मरीजों के इलाज के लिए अच्छी से अच्छी से व्यवस्था की जाए। जिन मरीजों का ऑपरेशन हुआ है, सुनिश्चित किया जाए कि उन्हें एम्फोटेरिसिन बी समय पर मिल जाए।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


bhopal, viral video of Kamal Nath, Narottam counterattacked

भोपाल। मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ के सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे एक वीडियो ने हडक़ंप मचा दिया है। इस वीडियो में वे कांग्रेस नेता को किसानों और सरकार के बीच चल रहे विवाद को लेकर आग लगाने की बात कह रहे हैं। कमलनाथ के इस बयान को लेकर कांग्रेस सफाई दे रही है और इसे एडिट वीडियो बता रही है। वहीं मप्र के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कमलनाथ पर निशाना साधते हुए बड़ा बयान दिया है।    गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने शनिवार को मीडिया से बातचीत करते हुए कमलनाथ पर पलटवार किया है। उन्होंने कहा कि कमलनाथ जी की उत्पत्ति ही आग से हुई है, इमरजेंसी में वह भागीदार रहे हैं, 84 के दंगों में लोगों के घर जलाएं। अब मध्यप्रदेश को जलाने की बात कर रहे है। आपदा में कभी तो सेवा की बात कर लीजिए कमलनाथ जी। पूर्व सीएम कमलनाथ के बयान की निंदा करते हुए कहा कि वैश्विक आपदा कोरोना के बीच आज पूरे प्रदेश की जनता कमलनाथ जी का वह चेहरा देख रही है कि वे किस तरह प्रदेश को जलाने की कोशिश कर रहे हैं। आपदा काल में जब हर व्यक्ति जन सेवा में लगा है,तब कमलनाथ जी प्रदेश में आग लगाने की बात कर रहे हैं,यह निंदनीय है। उन्होंने तंज कसते हुए कहा कि हनी ट्रैप की पेनड्राइव का उनके पास होना सोच के साथ ही शोध का भी विषय है। मुख्यमंत्री रहते हुए पता नहीं कौन-कौन से उन्होंने दस्तावेज गायब किए होंगे।   बता दे कि वायरल वीडियो के अनुसार पूर्व सीएम कमलनाथ कह रहे हैं कि यही आग लगाने का मौका है। किसानों के साथ अन्याय हुआ है। सरकार के खिलाफ जमकर चलाओ सरकार ऐसा कर रही है वैसा कर रही है। खरीदी जो करी है वह हरियाणा पंजाब से करी है। जितना सरकार के खिलाफ चला सकते हो चलाओं यही मौका है आग लगाने का।   प्रदेश में कोरोना की स्थिति नियंत्रण मेंवहीं मप्र के कोरोना की स्थिति को लेकर गृहमंत्री मिश्रा ने कहा कि मध्यप्रदेश में कोरोना निरंतर नियंत्रण में आता जा रहा है। अब प्रदेश का पॉजिटिविटी रेट 6प्रतिशत से नीचे 5.8 पर आ चुका है। उपचार के लिए पर्याप्त मात्रा में संसाधन उपलब्ध है, कहीं कोई कमी नहीं है न ऑक्सीजन की, न रेमडेसीविर इंजेक्शन की,  न आईसीयू की, ना बेड की। मध्य प्रदेश सरकार ने माकूल प्रबंध किए गए हैं अब हमारे पास ऑक्सीजन इंजेक्शन सब सर प्लस में है। उन्होंने कहा कि इंदौर, भोपाल हो या ग्वालियर अंचल सभी जगह स्थिति नियंत्रण में आती जा रही है। सिंगल डिजिट में आने के बाद पॉजिटिविटी रेट निरंतर कम हो रहा है।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


bhopal, 718 new cases , corona surfaced , MP, 38 people died

भोपाल। मध्यप्रदेश से कोरोना को लेकर बड़ी राहत भरी खबर है। यहां रोजाना कोरोना संक्रमण के नये मामलों में लगातार कमी देखने को मिल रही है। प्रदेश में कोरोना संक्रमण के मामले सैकड़ा में आ गये है। यहां बीते 24 घंटों में कोरोना के 718 नये मामले सामने आए हैं, जबकि 38 लोगों की मौत हुई है। इसके बाद राज्य में संक्रमितों की कुल संख्या 07 लाख, 84 हजार, 461 और मृतकों की संख्या 8295 हो गई है। यह जानकारी स्वास्थ्य विभाग द्वारा शनिवार देर शाम जारी कोरोना से संबंधित हेल्थ बुलेटिन में दी गई।   नये मामलों में इंदौर- 223, भोपाल- 171, ग्वालियर- 13, जबलपुर- 61, उज्जैन- 13, सागर- 16, खरगौन- 09, रतलाम- 12, रीवा- 09, बैतूल- 15, विदिशा- 08, धार- 08, सतना- 06, नरसिंहपुर- 02, होशंगाबाद- 08, बड़वानी- 07, शिवपुरी- 05, कटनी- 05, शहडोल- 01, बालाघाट- 08, झाबुआ- 01, सीहोर- 07, छिंदवाड़ा- 04, राजगढ़- 09, रायसेन- 09, मुरैना- 06, नीमच- 03, मंदसौर- 01, देवास- 04, दमोह- 09, शाजापुर- 05, छतरपुर- 01, अनूपपुर- 06, सिंगरौली- 02, सिवनी- 03, सीधी- 02, टीकमगढ़- 03, दतिया-04, गुना- 08, खंडवा- 01, पन्ना- 04, उमरिया-04, हरदा- 07, मंडला- 00, अलिराजपुर- 00, डिंडौरी-05, अशोकनगर-00, श्योपुर- 05, भिंड- 00, बुरहानपुर- 00, आगरमालवा- 00, निवाड़ी- 05 मरीज मिले हैं। आज प्रदेश के 46 जिलों में कोरोना के प्रकरण पाये गए।  मंडला, अशोकनगर, अलिराजपुर, आगरमालवा, भिंड और बुरहानपुर जिले में शनिवार को कोरोना संक्रमण के एक भी पॉजिटिव मामले सामने नहीं आए है।   बुलेटिन के अनुसार, आज प्रदेशभर में 81,812 सेम्पलों की जांच रिपोर्ट प्राप्त हुई। इनमें 718 पॉजिटिव और 81,094 रिपोर्ट निगेटिव आईं, जबकि 204 सेम्पल रिजेक्ट हुए। पाजिटिव प्रकरणों का प्रतिशत 0.8 रहा। इसके बाद राज्य में संक्रमित मरीजों की कुल संख्या बढकऱ 07,84, 461 हो गई है। इनमें सबसे अधिक इंदौर में 151272, भोपाल- 121814, ग्वालियर- 52967, जबलपुर- 50150, उज्जैन- 18783, सागर- 16469, खरगौन- 13845, रतलाम- 17716, रीवा- 16359, बैतूल- 12743, विदिशा- 11857, धार- 12464, सतना- 11929, नरसिंहपुर- 11165, बड़वानी- 8320, होशंगाबाद- 10593, शिवपुरी- 12364, कटनी- 9355, बालाघाट- 9052, शहडोल- 10058, छिंदवाड़ा- 6676, झाबुआ- 7667, सिहोर- 10102, राजगढ़- 8562, रायसेन- 9157, नीमच- 7880, मुरैना- 8213, मंदसौर- 8587, देवास- 7707, शाजापुर- 6299, दमोह- 8057, छतरपुर- 7576, अनूपपुर- 9183, सिवनी- 6728, सिंगरौली- 8775, सीधी- 9200, टीकमगढ़- 6851, दतिया- 6919, खंडवा- 4033, गुना- 5115, पन्ना- 7257, उमरिया- 6268, हरदा- 5000, मंडला- 5176, अलिराजपुर- 3495, डिंडौरी- 4603, अशोकनगर- 3635, श्योपुर- 3981, भिंड- 2989, बुरहानपुर- 2558, आगरमालवा- 3273, निवाड़ी- 3664 मरीज शामिल हैं।   राज्य में आज कोरोना से 38 मरीजों की मौत की पुष्टि हुई है। मृतकों में इंदौर, बैतूल, शिवपुरी, सतना और राजगढ़ में दो, भोपाल, ग्वालियर, जबलपुर और रीवा में तीन, सागर में सात, दामोह में चार, खरगौन, बड़वानी, टीकमगढ़, शाजापुर और उमरिया जिले के एक-एक मरीज शामिल है। इसके बाद राज्य में मृतकों की संख्या बढकऱ 8295 हो गई है।         मृतकों में सबसे अधिक इंदौर- 1353, भोपाल- 948, ग्वालियर- 596, जबलपुर- 623, उज्जैन- 171, सागर- 304, खरगौन- 224, रतलाम- 308, रीवा- 128, बैतूल- 211, विदिशा- 217, धार- 126, सतना- 119, नरसिंहपुर- 80, बड़वानी- 86, होशंगाबाद- 97, शिवपुरी- 117, कटनी- 109, बालाघाट- 64, शहडोल- 117, छिंदवाड़ा- 120, झाबुआ- 53, सिहोर- 52, राजगढ़- 122, रायसेन- 187, नीमच- 84, मुरैना- 84, मंदसौर- 84, देवास- 49, शाजापुर- 55, दमोह- 175, छतरपुर- 91, अनूपपुर- 81, सिवनी- 28, सिंगरौली- 77, सीधी- 87, टीकमगढ़- 108, दतिया- 77, खंडवा- 94, गुना- 44, पन्ना- 57, उमरिया- 59, हरदा- 92, मंडला- 17, अलिराजपुर- 47, डिंडौरी- 28, अशोकनगर- 31, श्योपुर- 63, भिंड- 29, बुरहानपुर- 38, आगरमालवा- 38, निवाड़ी- 46 व्यक्ति शामिल है।   बुलेटिन के अनुसार, राज्य में अब तक 7,64,822 मरीज कोरोना को मात देकर अपने घर पहुंच चुके हैं। इनमें 2225 मरीज शनिवार को स्वस्थ हुए। अब यहां कोरोना के सक्रिय प्रकरण 11344 हो गए हैं। बता दें कि मप्र में फरवरी के दूसरे सप्ताह में सक्रिय प्रकरण एक हजार के नीचे पहुंच गए थे, लेकिन स्वस्थ होने वाले मरीजों की तुलना में नये मामले अधिक संख्या में आने के कारण यहां सक्रिय प्रकरण लगातार बढ़ते जा रहे थे। हांलाकि अब सक्रिय मामलों में भी धीरे धीरे कमी देखने को मिल रही है। 

Dakhal News

Dakhal News 5 June 2021


satna, Kamal Nath targets , central and state government, encircles Shivraj government

सतना। मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ शुक्रवार को मैहर पहुंचे। यहां उन्होंने कोरोना प्रोटोकॉल के कारण मैहर मंदिर के गेट पर ही पुरोहितों की मौजूदगी में पूजा अर्चना की। इसके बाद सर्किट हाउस में पत्रकार वार्ता को संबोधित किया। उन्होंने बाबा अलाउद्दीन खां मैहर कला अकादमी के सदस्य व नलतरंग वादक प्रभूदयाल द्विवेदी के निधन पर घर पहुंचकर शोक  व्यक्त किया। इसके बाद कांग्रेस पदाधिकारी रहे मनीष चतुर्वेदी के घर पहुंचकर शोक जताया। वे करीब 1 बजे जबलपुर रवाना हो गए।   सतना में पत्रकारों से बातचीत करते हुए पूर्व सीएम कमलनाथ ने राज्य और केंद्र की भाजपा सरकार पर जमकर निशाना साधा। कमलनाथ ने कोविड से हुई मौतों पर एक बार फिर शिवराज सरकार को घेरा। उन्होंने कहा कि प्रदेश में डेढ़ लाख शव श्मशान पहुंचे हैं। इनमें से 80 प्रतिशत शवों का अंतिम संस्कार कोविड प्रोटोकॉल से किया गया है। जनता को दिखाई देने वाले सरकारी आंकड़े झूठे हैं। उन्होंने कहा कि सरकार श्मशान घाटों और कब्रिस्तान के रजिस्टर जनता के सामने रखे, जनता सच्चाई का साथ दे, मैं सच्चाई दिखाता हूं तो एफआईआर करते हैं, मैं सवाल पूछता हूं तो देशद्रोही बोलते हैं, केंद्र सरकार ने खुद सुप्रीम कोर्ट में वायरस को इंडियन म्यूटेंट कोविड बताया था।   कमलनाथ ने सीएम शिवराज पर तंज कसते हुए कहा कि उन्हें मुंबई जाना चाहिए। वे एक्टिंग अच्छी कर लेते हैं। इससे मध्य प्रदेश का नाम रोशन होगा। इसके बाद उन्होंने केन्द्र सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि मोदी जी ने भारत को बदनाम कर दिया है, इसलिए भारतीयों पर विश्व ने आने-जाने पर रोक लगा दी गई है। विदेशों में भारतीयों की ऐसी छवि बन गई है कि टैक्सी में कोई बैठने को तैयार नहीं है।इसके साथ ही पूर्व सीएम कमलनाथ ने एफिडेविट अभियान भी शुरू किया। उन्होंने कहा कि जिनके घरों में कोविड से मौतें हुई वो एफिडेविट भरकर दें, मैं एफिडेविट का ड्राफ्ट दे रहा हूं। उन्होंने कहा कि एफिडेविट मिलने पर मृतकों को 5 लाख मुआवजा दे सरकार, एफिडेविट गलत होने पर सरकार कार्रवाई को स्वतंत्र है। उन्होंने कहा कि कोई भी नागरिक मेरे अभियान से जुड़ सकता है, मैं केवल सच्चाई सामने लाना चाहता हूं। इसके अलावा कमलनाथ ने कहा कि नकली रेमडेसिविर कांड की उच्चस्तरीय जांच हो। सरकार बताए प्रदेश के कितने अस्पतालों में कैसे नकली इंजेक्शन पहुंचे? नकली इंजेक्शन से कितने मरीजों की जान गई? सतना के रामचन्द अग्रवाल को भी नकली रेमडेसिविर लगने की शिकायत मिली।    कमलनाथ ने प्रधानमंत्री मोदी से भी हिसाब मांगा। उन्होंने कहा कि 30 मई को सरकार के 7 साल होने पर देश को पीएम मोदी जवाब दें, पीएम केयर फंड भी नारा बनकर रह गया। पीएम केयर फंड से आये खराब वेन्टीलेटर्स ने कितनी जान लीं? वेन्टीलेटर्स खरीदी में कितना कमीशन लिया गया।

Dakhal News

Dakhal News 28 May 2021


bhopal, state government , doing everything possible, help poor families, Shivraj

भोपाल। कोरोना के कारण उत्पन्न परिस्थितियों में गरीब परिवारों की सहायता के लिए राज्य सरकार हर संभव प्रयास कर रही है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा दो माह का और राज्य सरकार द्वारा तीन माह का राशन उपलब्ध कराया गया है। सभी पात्र हितग्राहियों को नि:शुल्क राशन का वितरण हो जाए, यह सुनिश्चित किया जाए कि शहर में कोई भूखा न सोए। तेंदूपत्ता तुड़ाई के दौरान भी कोरोना से बचाव के लिए आवश्यक सावधानियों का पालन किया जाए। यह कहना है मुख्‍यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का।    उन्‍होंने शुक्रवार कहा कि निर्माण श्रमिकों और स्व-सहायता समूहों के खातों में राशि जारी की जा रही है। मुख्यमंत्री ने कहा कि जिन परिवारों में कोविड से मृत्यु हुई है उन्हें एक लाख रुपये की सहायता देने का निर्णय भी लिया गया है। वे एक बैठक में यह सभी बातें कह रहे थे।    गरीब एवं मध्यमवर्गीय परिवारों का नि:शुल्क कोविड इलाज सुनिश्चित करें मुख्यमंत्री ने कहा कि इस समय सबसे पहली प्राथमिकता है लोगों की जान बचाना। उन्होंने कहा कि कोरोना शरीर के साथ-साथ आर्थिक रूप से भी तोड़ देता है। मुख्यमंत्री कोविड उपचार योजना के तहत सभी गरीब एवं मध्यमवर्गीय परिवारों का नि:शुल्क कोविड इलाज कराना सुनिश्चित करें।   कोविड में अनाथ हुए बच्चों की जिम्मेदारी चौहान ने कहा कि कोविड से जिन बच्चों के माता-पिता तथा अभिभावकों की मृत्यु हो गयी है उनके पालन-पोषण की जिम्मेदारी सरकार उठाएगी। इसके लिए योजना बनाई गई है। पात्र बच्चों को प्रतिमाह पांच हजार रुपये तथा शिक्षा में सरकार मदद करेगी। उन्होंने कहा कि कोविड में जिन शासकीय सेवकों की मृत्यु हुई है उनके बच्चों को अनुकम्पा नियुक्त दी जाएगी।   कलेक्टर ने प्रेजेंटेशन द्वारा दी जानकारी समीक्षा बैठक में सीहोर कलेक्टर चन्द्र मोहन ठाकुर ने जिले में कोविड नियंत्रण के लिए किए गए प्रयासों पर प्रेजेंटेशन दिया। कलेक्टर ने बताया कि जिले में किल-कोरोना अभियान का सफलता से संचालन किया जा रहा है। अभियान के डोर-टू-डोर सर्वे के सकारात्मक परिणाम प्राप्त हुए हैं। पॉजिटिविटी रेट में तेजी से गिरावट आई है। जिला चिकित्सालय सहित सभी स्वास्थ्य केंद्रों पर स्वास्थ्य सुविधाओं को मजबूत किया गया है। चिकित्सालयों एवं स्वास्थ्य केंद्रों पर ऑक्सीजन बेड्स और आवश्यक दवाओं की भी लगातार मॉनिटरिंग कर पर्याप्त उपलब्धता सुनिश्चित की गई है।

Dakhal News

Dakhal News 28 May 2021


bhopal,1977 new cases, corona surfaced , MP, 70 dead

भोपाल। मध्यप्रदेश से कोरोना को लेकर बड़ी राहत भरी खबर है। यहां रोजाना कोरोना संक्रमण के नये मामलों में लगातार कमी देखने को मिल रही है। यहां बीते 24 घंटों में कोरोना के 1977 नये मामले सामने आए हैं, जबकि 70 लोगों की मौत हुई है। इसके बाद राज्य में संक्रमितों की कुल संख्या 07 लाख, 73 हजार, 855 और मृतकों की संख्या 7828 हो गई है। यह जानकारी स्वास्थ्य विभाग द्वारा गुरुवार देर शाम जारी कोरोना से संबंधित हेल्थ बुलेटिन में दी गई।   नये मामलों में इंदौर- 577, भोपाल- 409, ग्वालियर- 51, जबलपुर- 99, उज्जैन- 41, सागर- 96, खरगौन- 25, रतलाम- 48, रीवा- 31, बैतूल- 34, विदिशा- 19, धार- 27, सतना- 12, नरसिंहपुर- 08, होशंगाबाद- 18, बड़वानी- 08, शिवपुरी- 29, कटनी- 10, शहडोल- 19, बालाघाट- 18, झाबुआ- 09, सीहोर- 26, छिंदवाड़ा- 05, राजगढ़- 25, रायसेन- 19, मुरैना- 27, नीमच- 19, मंदसौर- 19, देवास- 09, दमोह- 38, शाजापुर- 06, छतरपुर- 11, अनूपपुर- 25, सिंगरौली- 07, सिवनी- 16, सीधी- 20, टीकमगढ़- 12, दतिया-10, गुना- 09, खंडवा- 02, पन्ना- 18, उमरिया-08, हरदा- 06, मंडला- 06, अलिराजपुर- 04, डिंडौरी-05, अशोकनगर-11, श्योपुर- 08, भिंड- 05, बुरहानपुर- 02, आगरमालवा- 05, निवाड़ी- 06 मरीज मिले हैं। आज प्रदेश के सभी 52 जिलों में कोरोना के प्रकरण पाये गए।   बुलेटिन के अनुसार, आज प्रदेशभर में 69,606 सेम्पलों की जांच रिपोर्ट प्राप्त हुई। इनमें 1977 पॉजिटिव और 67,629 रिपोर्ट निगेटिव आईं, जबकि 1520 सेम्पल रिजेक्ट हुए। पाजिटिव प्रकरणों का प्रतिशत 02.8 रहा। इसके बाद राज्य में संक्रमित मरीजों की कुल संख्या बढक़र 07,73, 855 हो गई है। इनमें सबसे अधिक इंदौर में 147922, भोपाल- 119650, ग्वालियर- 52612, जबलपुर- 49407, उज्जैन- 18639, सागर- 16210, खरगौन- 13696, रतलाम- 17501, रीवा- 16213, बैतूल- 12583, विदिशा- 11756, धार- 12329, सतना- 11867, नरसिंहपुर- 11096, बड़वानी- 8261, होशंगाबाद- 10524, शिवपुरी- 12278, कटनी- 9333, बालाघाट- 8935, शहडोल- 9998, छिंदवाड़ा- 6615, झाबुआ- 7642, सिहोर- 9962, राजगढ़- 8458, रायसेन- 9048, नीमच- 7784, मुरैना- 8029, मंदसौर- 8501, देवास- 7657, शाजापुर- 6257, दमोह- 7889, छतरपुर- 7530, अनूपपुर- 9046, सिवनी- 6638, सिंगरौली- 8740, सीधी- 9089, टीकमगढ़- 6813, दतिया- 6879, खंडवा- 4020, गुना- 5031, पन्ना- 7202, उमरिया- 6209, हरदा- 4969, मंडला- 5158, अलिराजपुर- 3482, डिंडौरी- 4570, अशोकनगर- 3577, श्योपुर- 3888, भिंड- 2966, बुरहानपुर- 2545, आगरमालवा- 3258, निवाड़ी- 3593 मरीज शामिल हैं।   राज्य में आज कोरोना से 70 मरीजों की मौत की पुष्टि हुई है। मृतकों में इंदौर, सागर, बैतूल और विदिशा में चार, भोपाल, रीवा, दमोह, छतरपुर और कटनी में तीन, रायसेन में छह, ग्वालियर और जबलपुर में आठ, रतलाम, सतना, पन्ना, भिंड और नरसिंहपुर में दो, खरगौन, बड़वानी, उमरिया, हरदा, श्योपुर, टीकमगढ़ और शहडोल जिले के एक-एक मरीज शामिल है। इसके बाद राज्य में मृतकों की संख्या बढक़र 7828 हो गई है।        मृतकों में सबसे अधिक इंदौर- 1327, भोपाल- 924, ग्वालियर- 556, जबलपुर- 579, उज्जैन- 169, सागर- 253, खरगौन- 217, रतलाम- 300, रीवा- 105, बैतूल- 176, विदिशा- 178, धार- 123, सतना- 107, नरसिंहपुर- 76, बड़वानी- 83, होशंगाबाद- 97, शिवपुरी- 102, कटनी- 105, बालाघाट- 60, शहडोल- 117, छिंदवाड़ा- 120, झाबुआ- 52, सिहोर- 49, राजगढ़- 112, रायसेन- 182, नीमच- 84, मुरैना- 78, मंदसौर- 81, देवास- 46, शाजापुर- 52, दमोह- 150, छतरपुर- 87, अनूपपुर- 74, सिवनी- 28, सिंगरौली- 73, सीधी- 85, टीकमगढ़- 103, दतिया- 74, खंडवा- 94, गुना- 44, पन्ना- 55, उमरिया- 57, हरदा- 84, मंडला- 17, अलिराजपुर- 45, डिंडौरी- 28, अशोकनगर- 26, श्योपुर- 57, भिंड- 25, बुरहानपुर- 37, आगरमालवा- 32, निवाड़ी- 43 व्यक्ति शामिल है।   बुलेटिन के अनुसार, राज्य में अब तक 7,27,700 मरीज कोरोना को मात देकर अपने घर पहुंच चुके हैं। इनमें 6845 मरीज गुरुवार को स्वस्थ हुए। अब यहां कोरोना के सक्रिय प्रकरण 38327 हो गए हैं। बता दें कि मप्र में फरवरी के दूसरे सप्ताह में सक्रिय प्रकरण एक हजार के नीचे पहुंच गए थे, लेकिन स्वस्थ होने वाले मरीजों की तुलना में नये मामले अधिक संख्या में आने के कारण यहां सक्रिय प्रकरण लगातार बढ़ते जा रहे थे। हांलाकि अब सक्रिय मामलों में भी धीरे धीरे कमी देखने को मिल रही है।

Dakhal News

Dakhal News 27 May 2021


bhopal, Digvijay ,wrote a letter, CM Shivraj

भोपाल। मध्य प्रदेश के पूर्व सीएम और कांग्र्रेस राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को पत्र लिखा है। उन्होंने अपने पत्र के माध्यम से संविदा स्वास्थ्य कर्मियों की मांगों को पूरा करने का आग्रह किया है।   दिग्विजय सिंह ने अपने पत्र में कहा है कि मध्यप्रदेश में राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के अंतर्गत कार्यरत 19 हजार संविदा स्वास्थ्य कर्मचारी, जिनमें आयुष चिकित्सक, फार्मासिस्ट, लैब टेक्निशयन, स्टॉफ नर्स, ए.एन.एम., डाटा मेनेजर तथा अन्य समस्त पैरामेडिकल स्टॉफ शामिल है, ये सभी लोग लंबे समय से संविदा पर पदस्थ रहते हुये स्वास्थ्य सेवाएं दे रहे है। इन सभी स्वास्थ्य कर्मचारियों ने मार्च 2020 के बाद प्रदेश में कोरोना महामारी से निपटने के लिये अपना अमूल्य योगदान दिया है। अनेक कर्मचारियों के ड्यूटी के दौरान संक्रमित होने के कारण उन्होने अपना तथा अपने परिवार के अनेक लोगों का जीवन खो दिया है। ये संविदा स्वास्थ्य कर्मचारी कोरोना योद्धा है जो जोखिम उठाकर न्यूनतम वेतन पर कार्य करके महामारी में लोगों का जीवन बचाने में योगदान दे रहे हैं।   पूर्व सीएम ने कहा कि मध्यप्रदेश में कार्यरत संविदा कर्मचारियों को नियमित कर्मचारियों के वेतन का 90 प्रतिशत वेतन देने के संबन्ध आपकी सरकार ने नीति बनाई थी जिसे राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन में कार्यरत कर्मचारियों के लिये अभी तक लागू नही किया गया है। विषमतम परिस्थितियों में न्यूनतम वेतन पर कार्य करने वाले इन स्वास्थ्य कर्मचारियों की उपेक्षा की जा रही है तथा इनकी मांगों पर ध्यान नही दिया जा रहा है। प्रदेश के 19 हजार संविदा स्वास्थ्य कर्मचारी सरकार के रवैये से अत्यंत क्षुब्ध और दु:खी होकर विगत 24 मई 2021 से अनिश्चित कालीन हड़ताल पर है, जिसके कारण पहले से ही कुप्रबंधन से गुजर रही मध्यप्रदेश की स्वास्थ्य सेवाएं ठप्प हो गई है। उन्होंने कहा कि इन कर्मचारियों के हड़ताल पर जाने से शहरों के साथ-साथ कस्बों और ग्रामीण क्षेत्रों में लोगों की टेस्टिंग नही हो पा रही है और न ही उन्हें समुचित चिकित्सकीय परामर्श मिल पा रहा है। ऐसे हालात में इन कर्मचारियों के प्रति असंवेदनशीलता और दुराग्रह छोडक़र उनकी मांगों का निराकरण किया जाना चाहिए।   दिग्विजय सिंह ने सरकार से आग्रह करते हुए कहा कि मेरा आपसे अनुरोध है कि राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के अंतर्गत कार्यरत 19 हजार संविदा स्वास्थ्य कर्मचारियों की समस्याओं और मॉंगों पर गंभीरता से विचार कर उनके निराकरण हेतु आवश्यक निर्देश प्रदान करने का कष्ट करें।

Dakhal News

Dakhal News 27 May 2021


bhopal,Shivraj gave ,disaster assistance ,Rs 112 crore 81 lakh, thousand workers

भोपाल। मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि आगामी एक जून से प्रदेश में धीरे-धीरे कोरोना कर्फ्यू समाप्त किया जाएगा। ऐसे में आपको पूरी सावधानी रखनी हैं। मास्क लगाना है, एक दूसरे से दूरी रखनी है, कहीं भीड़ नहीं करनी है, बार-बार हाथ धोने हैं। सबको वैक्सीन लगवाना है। इन सब सावधानियों का पालन करते हुए हम कोरोना से लड़ते भी रहेंगे और काम-धंधा भी करते रहेंगे।    मुख्यमंत्री चौहान मंगलवार को मंत्रालय से वीडियो कॉफ्रेंसिंग के माध्यम से प्रदेश के निर्माण श्रमिकों से बातचीत कर रहे थे।  चौहान ने इसके पूर्व प्रदेश के 11 लाख 28 हजार निर्माण श्रमिकों के खाते में कोविड-19 सहायता योजना के अंतर्गत 112 करोड़ 81 लाख रूपये की राशि सिंगल क्लिक के माध्यम से अंतरित की। इस अवसर पर श्रम एवं खनिज संसाधन मंत्री ब्रजेन्द्र प्रताप सिंह और संबंधित अधिकारी उपस्थित थे।   पाँच माह का नि:शुल्क राशन चौहान ने कहा कि शासन द्वारा सभी गरीबों, जिनमें निर्माण श्रमिक भी शामिल हैं, को पाँच माह का प्रति सदस्‍य पाँच-पाँच किलो प्रतिमाह नि:शुल्क राशन दिया जा रहा है, जिसमें तीन माह का राशन राज्य सरकार और दो माह का राशन केन्द्र सरकार दे रही है। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए कि यह राशन प्रत्येक गरीब को मिल जाए, यह सुनिश्चित करें।    आपका भाई आपके साथ खड़ा है  मुख्यमंत्री का कहना था कि सरकार कोविड उपचार योजना में कोरोना का नि:शुल्क इलाज कर रही है। आयुष्मान कार्डधारी व्यक्ति एवं उसके परिवार को वर्ष में पाँच लाख रूपये तक सम्बद्ध निज़ी अस्पतालों में नि:शुल्क इलाज की सुविधा दी गई है। इसके अलावा सभी शासकीय अस्पतालों एवं अनुबंधित अस्पतालों में भी कोरोना का नि:शुल्क इलाज हो रहा है। प्रदेश में कोरोना से माँ-बाप की मृत्यु पर बच्चों को पाँच हजार रूपये मासिक पेंशन देने की योजना भी चालू की गयी है। सरकार संकट के समय पूरी तरह आपके साथ है। आपका भाई आपके साथ खड़ा है।    गुस्सा तो नहीं हो अपने भाई से  मुख्यमंत्री ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से टीकमगढ़ जिले के निर्माण श्रमिक परीक्षित अहिरवार, इंदौर की शशि वर्मा, मंडला की गिरिजा वनवासी, भिंड के प्रसाद राठौर तथा सीहोर की लता मालवीय से बातचीत भी की। उन्‍होंने पूछा कि कोरोना के दौरान पाबंदियाँ लगाने पर वे अपने भाई से गुस्सा तो नहीं हैं। यदि कोरोना कर्फ्यू नहीं लगाया जाता तो प्रदेश में कोरोना संक्रमण नियंत्रित नहीं होता। यह जरूरी था। अब कोरोना नियंत्रित हो गया है, अत: हम धीरे-धीरे पाबंदियाँ खत्म करेंगे। स्थानीय क्राइसिस मैनेजमेंट समूह निर्णय करेंगे कि क्या खुले और कब-कब खुले। सभी ने कहा कि कोरोना कर्फ्यू तो ज़रूरी था। यह नहीं होता तो कोरोना नहीं जाता।    आप अपनी सुरक्षा स्वयं करें  मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि कोरोना से आपको अपने गाँव-शहर की खुद सुरक्षा करनी पड़ेगी। सारी सावधानियों का पालन करें।  साथ ही वैक्सीन जरूर लगवाएँ। यह कोरोना से बचने का सुरक्षा चक्र है। 

Dakhal News

Dakhal News 25 May 2021


bhopal, Plant saplings, Madhya Pradesh, upload photos,get awards , Chief Minister

भोपाल। जन-जन के सहयोग से प्रदेश के हरित क्षेत्र में वृद्धि कर  पर्यावरण को स्वच्छ और प्रकृति को प्राणवायु से समृद्ध करने के उद्देश्य से अंकुर कार्यक्रम आरंभ किया गया है। कार्यक्रम के अंतर्गत वृक्षारोपण के लिए जनसामान्य को प्रोत्साहित करने के उद्देश्य से पौधा लगाने वाले चयनित विजेताओं को प्राणवायु अवार्ड से सम्मानित किया जायेगा। उक्‍त बातें मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शनिवार कही है।    कार्यक्रम में भाग लेने के लिए गूगल प्ले स्टोर्स से वायु दूत एप  डाउनलोड कर पंजीयन करना होगा। कार्यक्रम में भाग लेने वाले व्यक्ति को स्वयं के संसाधन से कम से कम एक पौधा लगाकर, पौधे की फोटो एप के माध्यम से लेकर अपलोड करना होगी। पौधा लगाने के तीस दिन बाद फिर से पौधे की नई फोटो एप पर अपलोड कर सहभागिता प्रमाण पत्र डाउन लोड किया जा सकेगा। जिलेवार चयनित विजेताओं को प्राणवायु अवार्ड से सम्मानित किया जायेगा। जिसके अंतर्गत मुख्यमंत्री द्वारा प्रमाण पत्र प्रदान किया जायेगा।    सभी जिलों में होंगे नोडल अधिकारी और वेरिफायर अंकुर कार्यक्रम के क्रियान्वयन के लिए राज्य शासन द्वारा पर्यावरण नियोजन एवं समन्वय संगठन (एपको) नोडल एजेंसी बनाया गया है। जिला कलेक्टर इस कार्य के लिए जिले के वरिष्ठ अधिकारी को जिला नोडल अधिकारी नियुक्त करेंगे। जिला नोडल अधिकारी द्वारा आवश्यकतानुसार स्थानीय वेरिफायर का नामांकन कर वायुदूत एप में उनकी प्रवृष्टि की जायेगी।    कम्प्यूटराइज लाटरी द्वारा होगा विजेताओं का चयन जिले में जन अभियान परिषद के स्वयंसेवक,महाविद्यालयों के ईको क्लब प्रभारी तथा राष्ट्रीय हरित कोर योजना के मास्टर ट्रेनर में से वेरिफायर नामांकित किये जायेंगे। जिला स्तर पर कुल प्राप्त प्रविृष्टियों का 10 प्रतिशत अथवा 200 जो भी कम हो का रेंडम आधार पर जिला स्तर पर वेरिफायर्स से सत्यापन कराया जायेगा। जिला स्तर पर कुल प्राप्त हुई प्रविृष्टियों में से कम्प्यूटराइज लाटरी द्वारा विजेताओं का चयन किया जायेगा। विजेताओं की सूची वायुदूत एप में अपलोड की जायेगी।  

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


bhopal,Madhya Pradesh government, declares black fungus, disease as state epidemic

भोपाल। देशभर में कोरोना वायरस के बढ़ते संकट के बाद इसे महामारी घोषित किया गया। वहीं इस साल आई संक्रमण की दूसरी लहर के दौरान ब्लैक फंगस के मरीज भी तेजी से बढऩे लगे। जिसे देखते हुए मध्य प्रदेश सरकार ने इस बीमारी को भी राजकीय महामारी घोषित कर दिया। दो दिन पहले ही केंद्र सरकार ने राज्यों से इस बीमारी को महामारी घोषित करने के लिए कहा था। इससे पहले तमिलनाडु, ओडिशा, असम, पंजाब ने म्यूकरमाइकोसिस यानी ब्लैक फंगस को महामारी रोग अधिनियम के तहत अधिसूचित किया है।   प्रदेश के 8 मेडिकल कॉलेज में ब्लैक फंगस के मरीजों के लिए आरक्षित 420 बेड पर 361 मरीज भर्ती हैं। खास बात है, राजधानी के हमीदिया अस्पताल में ब्लैक फंगस के लिए 80 बेड आरक्षित हैं, लेकिन यहां 90 मरीज भर्ती हैं। क्राइसिस मैनेजमेंट व जिला कलेक्टरों के साथ हुई बैठक के बाद सीएम शिवराज ने एक महत्त्वपूर्ण निर्णय लिया। उन्होंने कहा कि प्रदेश में ब्लैक फंगल इन्फेक्शन को महामारी घोषित किया जाता है। इस बीमारी से जूझ रहे मरीजों के इलाज के लिए अच्छी से अच्छी से व्यवस्था की जाए। जिन मरीजों का ऑपरेशन हुआ है, सुनिश्चित किया जाए कि उन्हें एम्फोटेरिसिन बी समय पर मिल जाए।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


bhopal, viral video of Kamal Nath, Narottam counterattacked

भोपाल। मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ के सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे एक वीडियो ने हडक़ंप मचा दिया है। इस वीडियो में वे कांग्रेस नेता को किसानों और सरकार के बीच चल रहे विवाद को लेकर आग लगाने की बात कह रहे हैं। कमलनाथ के इस बयान को लेकर कांग्रेस सफाई दे रही है और इसे एडिट वीडियो बता रही है। वहीं मप्र के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कमलनाथ पर निशाना साधते हुए बड़ा बयान दिया है।    गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने शनिवार को मीडिया से बातचीत करते हुए कमलनाथ पर पलटवार किया है। उन्होंने कहा कि कमलनाथ जी की उत्पत्ति ही आग से हुई है, इमरजेंसी में वह भागीदार रहे हैं, 84 के दंगों में लोगों के घर जलाएं। अब मध्यप्रदेश को जलाने की बात कर रहे है। आपदा में कभी तो सेवा की बात कर लीजिए कमलनाथ जी। पूर्व सीएम कमलनाथ के बयान की निंदा करते हुए कहा कि वैश्विक आपदा कोरोना के बीच आज पूरे प्रदेश की जनता कमलनाथ जी का वह चेहरा देख रही है कि वे किस तरह प्रदेश को जलाने की कोशिश कर रहे हैं। आपदा काल में जब हर व्यक्ति जन सेवा में लगा है,तब कमलनाथ जी प्रदेश में आग लगाने की बात कर रहे हैं,यह निंदनीय है। उन्होंने तंज कसते हुए कहा कि हनी ट्रैप की पेनड्राइव का उनके पास होना सोच के साथ ही शोध का भी विषय है। मुख्यमंत्री रहते हुए पता नहीं कौन-कौन से उन्होंने दस्तावेज गायब किए होंगे।   बता दे कि वायरल वीडियो के अनुसार पूर्व सीएम कमलनाथ कह रहे हैं कि यही आग लगाने का मौका है। किसानों के साथ अन्याय हुआ है। सरकार के खिलाफ जमकर चलाओ सरकार ऐसा कर रही है वैसा कर रही है। खरीदी जो करी है वह हरियाणा पंजाब से करी है। जितना सरकार के खिलाफ चला सकते हो चलाओं यही मौका है आग लगाने का।   प्रदेश में कोरोना की स्थिति नियंत्रण मेंवहीं मप्र के कोरोना की स्थिति को लेकर गृहमंत्री मिश्रा ने कहा कि मध्यप्रदेश में कोरोना निरंतर नियंत्रण में आता जा रहा है। अब प्रदेश का पॉजिटिविटी रेट 6प्रतिशत से नीचे 5.8 पर आ चुका है। उपचार के लिए पर्याप्त मात्रा में संसाधन उपलब्ध है, कहीं कोई कमी नहीं है न ऑक्सीजन की, न रेमडेसीविर इंजेक्शन की,  न आईसीयू की, ना बेड की। मध्य प्रदेश सरकार ने माकूल प्रबंध किए गए हैं अब हमारे पास ऑक्सीजन इंजेक्शन सब सर प्लस में है। उन्होंने कहा कि इंदौर, भोपाल हो या ग्वालियर अंचल सभी जगह स्थिति नियंत्रण में आती जा रही है। सिंगल डिजिट में आने के बाद पॉजिटिविटी रेट निरंतर कम हो रहा है।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


bhopal, viral video of Kamal Nath, Narottam counterattacked

भोपाल। मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ के सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे एक वीडियो ने हडक़ंप मचा दिया है। इस वीडियो में वे कांग्रेस नेता को किसानों और सरकार के बीच चल रहे विवाद को लेकर आग लगाने की बात कह रहे हैं। कमलनाथ के इस बयान को लेकर कांग्रेस सफाई दे रही है और इसे एडिट वीडियो बता रही है। वहीं मप्र के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कमलनाथ पर निशाना साधते हुए बड़ा बयान दिया है।    गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने शनिवार को मीडिया से बातचीत करते हुए कमलनाथ पर पलटवार किया है। उन्होंने कहा कि कमलनाथ जी की उत्पत्ति ही आग से हुई है, इमरजेंसी में वह भागीदार रहे हैं, 84 के दंगों में लोगों के घर जलाएं। अब मध्यप्रदेश को जलाने की बात कर रहे है। आपदा में कभी तो सेवा की बात कर लीजिए कमलनाथ जी। पूर्व सीएम कमलनाथ के बयान की निंदा करते हुए कहा कि वैश्विक आपदा कोरोना के बीच आज पूरे प्रदेश की जनता कमलनाथ जी का वह चेहरा देख रही है कि वे किस तरह प्रदेश को जलाने की कोशिश कर रहे हैं। आपदा काल में जब हर व्यक्ति जन सेवा में लगा है,तब कमलनाथ जी प्रदेश में आग लगाने की बात कर रहे हैं,यह निंदनीय है। उन्होंने तंज कसते हुए कहा कि हनी ट्रैप की पेनड्राइव का उनके पास होना सोच के साथ ही शोध का भी विषय है। मुख्यमंत्री रहते हुए पता नहीं कौन-कौन से उन्होंने दस्तावेज गायब किए होंगे।   बता दे कि वायरल वीडियो के अनुसार पूर्व सीएम कमलनाथ कह रहे हैं कि यही आग लगाने का मौका है। किसानों के साथ अन्याय हुआ है। सरकार के खिलाफ जमकर चलाओ सरकार ऐसा कर रही है वैसा कर रही है। खरीदी जो करी है वह हरियाणा पंजाब से करी है। जितना सरकार के खिलाफ चला सकते हो चलाओं यही मौका है आग लगाने का।   प्रदेश में कोरोना की स्थिति नियंत्रण मेंवहीं मप्र के कोरोना की स्थिति को लेकर गृहमंत्री मिश्रा ने कहा कि मध्यप्रदेश में कोरोना निरंतर नियंत्रण में आता जा रहा है। अब प्रदेश का पॉजिटिविटी रेट 6प्रतिशत से नीचे 5.8 पर आ चुका है। उपचार के लिए पर्याप्त मात्रा में संसाधन उपलब्ध है, कहीं कोई कमी नहीं है न ऑक्सीजन की, न रेमडेसीविर इंजेक्शन की,  न आईसीयू की, ना बेड की। मध्य प्रदेश सरकार ने माकूल प्रबंध किए गए हैं अब हमारे पास ऑक्सीजन इंजेक्शन सब सर प्लस में है। उन्होंने कहा कि इंदौर, भोपाल हो या ग्वालियर अंचल सभी जगह स्थिति नियंत्रण में आती जा रही है। सिंगल डिजिट में आने के बाद पॉजिटिविटी रेट निरंतर कम हो रहा है।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


bhopal, viral video of Kamal Nath, Narottam counterattacked

भोपाल। मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ के सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे एक वीडियो ने हडक़ंप मचा दिया है। इस वीडियो में वे कांग्रेस नेता को किसानों और सरकार के बीच चल रहे विवाद को लेकर आग लगाने की बात कह रहे हैं। कमलनाथ के इस बयान को लेकर कांग्रेस सफाई दे रही है और इसे एडिट वीडियो बता रही है। वहीं मप्र के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कमलनाथ पर निशाना साधते हुए बड़ा बयान दिया है।    गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने शनिवार को मीडिया से बातचीत करते हुए कमलनाथ पर पलटवार किया है। उन्होंने कहा कि कमलनाथ जी की उत्पत्ति ही आग से हुई है, इमरजेंसी में वह भागीदार रहे हैं, 84 के दंगों में लोगों के घर जलाएं। अब मध्यप्रदेश को जलाने की बात कर रहे है। आपदा में कभी तो सेवा की बात कर लीजिए कमलनाथ जी। पूर्व सीएम कमलनाथ के बयान की निंदा करते हुए कहा कि वैश्विक आपदा कोरोना के बीच आज पूरे प्रदेश की जनता कमलनाथ जी का वह चेहरा देख रही है कि वे किस तरह प्रदेश को जलाने की कोशिश कर रहे हैं। आपदा काल में जब हर व्यक्ति जन सेवा में लगा है,तब कमलनाथ जी प्रदेश में आग लगाने की बात कर रहे हैं,यह निंदनीय है। उन्होंने तंज कसते हुए कहा कि हनी ट्रैप की पेनड्राइव का उनके पास होना सोच के साथ ही शोध का भी विषय है। मुख्यमंत्री रहते हुए पता नहीं कौन-कौन से उन्होंने दस्तावेज गायब किए होंगे।   बता दे कि वायरल वीडियो के अनुसार पूर्व सीएम कमलनाथ कह रहे हैं कि यही आग लगाने का मौका है। किसानों के साथ अन्याय हुआ है। सरकार के खिलाफ जमकर चलाओ सरकार ऐसा कर रही है वैसा कर रही है। खरीदी जो करी है वह हरियाणा पंजाब से करी है। जितना सरकार के खिलाफ चला सकते हो चलाओं यही मौका है आग लगाने का।   प्रदेश में कोरोना की स्थिति नियंत्रण मेंवहीं मप्र के कोरोना की स्थिति को लेकर गृहमंत्री मिश्रा ने कहा कि मध्यप्रदेश में कोरोना निरंतर नियंत्रण में आता जा रहा है। अब प्रदेश का पॉजिटिविटी रेट 6प्रतिशत से नीचे 5.8 पर आ चुका है। उपचार के लिए पर्याप्त मात्रा में संसाधन उपलब्ध है, कहीं कोई कमी नहीं है न ऑक्सीजन की, न रेमडेसीविर इंजेक्शन की,  न आईसीयू की, ना बेड की। मध्य प्रदेश सरकार ने माकूल प्रबंध किए गए हैं अब हमारे पास ऑक्सीजन इंजेक्शन सब सर प्लस में है। उन्होंने कहा कि इंदौर, भोपाल हो या ग्वालियर अंचल सभी जगह स्थिति नियंत्रण में आती जा रही है। सिंगल डिजिट में आने के बाद पॉजिटिविटी रेट निरंतर कम हो रहा है।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


bhopal, viral video of Kamal Nath, Narottam counterattacked

भोपाल। मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ के सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे एक वीडियो ने हडक़ंप मचा दिया है। इस वीडियो में वे कांग्रेस नेता को किसानों और सरकार के बीच चल रहे विवाद को लेकर आग लगाने की बात कह रहे हैं। कमलनाथ के इस बयान को लेकर कांग्रेस सफाई दे रही है और इसे एडिट वीडियो बता रही है। वहीं मप्र के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कमलनाथ पर निशाना साधते हुए बड़ा बयान दिया है।    गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने शनिवार को मीडिया से बातचीत करते हुए कमलनाथ पर पलटवार किया है। उन्होंने कहा कि कमलनाथ जी की उत्पत्ति ही आग से हुई है, इमरजेंसी में वह भागीदार रहे हैं, 84 के दंगों में लोगों के घर जलाएं। अब मध्यप्रदेश को जलाने की बात कर रहे है। आपदा में कभी तो सेवा की बात कर लीजिए कमलनाथ जी। पूर्व सीएम कमलनाथ के बयान की निंदा करते हुए कहा कि वैश्विक आपदा कोरोना के बीच आज पूरे प्रदेश की जनता कमलनाथ जी का वह चेहरा देख रही है कि वे किस तरह प्रदेश को जलाने की कोशिश कर रहे हैं। आपदा काल में जब हर व्यक्ति जन सेवा में लगा है,तब कमलनाथ जी प्रदेश में आग लगाने की बात कर रहे हैं,यह निंदनीय है। उन्होंने तंज कसते हुए कहा कि हनी ट्रैप की पेनड्राइव का उनके पास होना सोच के साथ ही शोध का भी विषय है। मुख्यमंत्री रहते हुए पता नहीं कौन-कौन से उन्होंने दस्तावेज गायब किए होंगे।   बता दे कि वायरल वीडियो के अनुसार पूर्व सीएम कमलनाथ कह रहे हैं कि यही आग लगाने का मौका है। किसानों के साथ अन्याय हुआ है। सरकार के खिलाफ जमकर चलाओ सरकार ऐसा कर रही है वैसा कर रही है। खरीदी जो करी है वह हरियाणा पंजाब से करी है। जितना सरकार के खिलाफ चला सकते हो चलाओं यही मौका है आग लगाने का।   प्रदेश में कोरोना की स्थिति नियंत्रण मेंवहीं मप्र के कोरोना की स्थिति को लेकर गृहमंत्री मिश्रा ने कहा कि मध्यप्रदेश में कोरोना निरंतर नियंत्रण में आता जा रहा है। अब प्रदेश का पॉजिटिविटी रेट 6प्रतिशत से नीचे 5.8 पर आ चुका है। उपचार के लिए पर्याप्त मात्रा में संसाधन उपलब्ध है, कहीं कोई कमी नहीं है न ऑक्सीजन की, न रेमडेसीविर इंजेक्शन की,  न आईसीयू की, ना बेड की। मध्य प्रदेश सरकार ने माकूल प्रबंध किए गए हैं अब हमारे पास ऑक्सीजन इंजेक्शन सब सर प्लस में है। उन्होंने कहा कि इंदौर, भोपाल हो या ग्वालियर अंचल सभी जगह स्थिति नियंत्रण में आती जा रही है। सिंगल डिजिट में आने के बाद पॉजिटिविटी रेट निरंतर कम हो रहा है।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


bhopal, viral video of Kamal Nath, Narottam counterattacked

भोपाल। मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ के सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे एक वीडियो ने हडक़ंप मचा दिया है। इस वीडियो में वे कांग्रेस नेता को किसानों और सरकार के बीच चल रहे विवाद को लेकर आग लगाने की बात कह रहे हैं। कमलनाथ के इस बयान को लेकर कांग्रेस सफाई दे रही है और इसे एडिट वीडियो बता रही है। वहीं मप्र के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कमलनाथ पर निशाना साधते हुए बड़ा बयान दिया है।    गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने शनिवार को मीडिया से बातचीत करते हुए कमलनाथ पर पलटवार किया है। उन्होंने कहा कि कमलनाथ जी की उत्पत्ति ही आग से हुई है, इमरजेंसी में वह भागीदार रहे हैं, 84 के दंगों में लोगों के घर जलाएं। अब मध्यप्रदेश को जलाने की बात कर रहे है। आपदा में कभी तो सेवा की बात कर लीजिए कमलनाथ जी। पूर्व सीएम कमलनाथ के बयान की निंदा करते हुए कहा कि वैश्विक आपदा कोरोना के बीच आज पूरे प्रदेश की जनता कमलनाथ जी का वह चेहरा देख रही है कि वे किस तरह प्रदेश को जलाने की कोशिश कर रहे हैं। आपदा काल में जब हर व्यक्ति जन सेवा में लगा है,तब कमलनाथ जी प्रदेश में आग लगाने की बात कर रहे हैं,यह निंदनीय है। उन्होंने तंज कसते हुए कहा कि हनी ट्रैप की पेनड्राइव का उनके पास होना सोच के साथ ही शोध का भी विषय है। मुख्यमंत्री रहते हुए पता नहीं कौन-कौन से उन्होंने दस्तावेज गायब किए होंगे।   बता दे कि वायरल वीडियो के अनुसार पूर्व सीएम कमलनाथ कह रहे हैं कि यही आग लगाने का मौका है। किसानों के साथ अन्याय हुआ है। सरकार के खिलाफ जमकर चलाओ सरकार ऐसा कर रही है वैसा कर रही है। खरीदी जो करी है वह हरियाणा पंजाब से करी है। जितना सरकार के खिलाफ चला सकते हो चलाओं यही मौका है आग लगाने का।   प्रदेश में कोरोना की स्थिति नियंत्रण मेंवहीं मप्र के कोरोना की स्थिति को लेकर गृहमंत्री मिश्रा ने कहा कि मध्यप्रदेश में कोरोना निरंतर नियंत्रण में आता जा रहा है। अब प्रदेश का पॉजिटिविटी रेट 6प्रतिशत से नीचे 5.8 पर आ चुका है। उपचार के लिए पर्याप्त मात्रा में संसाधन उपलब्ध है, कहीं कोई कमी नहीं है न ऑक्सीजन की, न रेमडेसीविर इंजेक्शन की,  न आईसीयू की, ना बेड की। मध्य प्रदेश सरकार ने माकूल प्रबंध किए गए हैं अब हमारे पास ऑक्सीजन इंजेक्शन सब सर प्लस में है। उन्होंने कहा कि इंदौर, भोपाल हो या ग्वालियर अंचल सभी जगह स्थिति नियंत्रण में आती जा रही है। सिंगल डिजिट में आने के बाद पॉजिटिविटी रेट निरंतर कम हो रहा है।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


bhopal, viral video of Kamal Nath, Narottam counterattacked

भोपाल। मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ के सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे एक वीडियो ने हडक़ंप मचा दिया है। इस वीडियो में वे कांग्रेस नेता को किसानों और सरकार के बीच चल रहे विवाद को लेकर आग लगाने की बात कह रहे हैं। कमलनाथ के इस बयान को लेकर कांग्रेस सफाई दे रही है और इसे एडिट वीडियो बता रही है। वहीं मप्र के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कमलनाथ पर निशाना साधते हुए बड़ा बयान दिया है।    गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने शनिवार को मीडिया से बातचीत करते हुए कमलनाथ पर पलटवार किया है। उन्होंने कहा कि कमलनाथ जी की उत्पत्ति ही आग से हुई है, इमरजेंसी में वह भागीदार रहे हैं, 84 के दंगों में लोगों के घर जलाएं। अब मध्यप्रदेश को जलाने की बात कर रहे है। आपदा में कभी तो सेवा की बात कर लीजिए कमलनाथ जी। पूर्व सीएम कमलनाथ के बयान की निंदा करते हुए कहा कि वैश्विक आपदा कोरोना के बीच आज पूरे प्रदेश की जनता कमलनाथ जी का वह चेहरा देख रही है कि वे किस तरह प्रदेश को जलाने की कोशिश कर रहे हैं। आपदा काल में जब हर व्यक्ति जन सेवा में लगा है,तब कमलनाथ जी प्रदेश में आग लगाने की बात कर रहे हैं,यह निंदनीय है। उन्होंने तंज कसते हुए कहा कि हनी ट्रैप की पेनड्राइव का उनके पास होना सोच के साथ ही शोध का भी विषय है। मुख्यमंत्री रहते हुए पता नहीं कौन-कौन से उन्होंने दस्तावेज गायब किए होंगे।   बता दे कि वायरल वीडियो के अनुसार पूर्व सीएम कमलनाथ कह रहे हैं कि यही आग लगाने का मौका है। किसानों के साथ अन्याय हुआ है। सरकार के खिलाफ जमकर चलाओ सरकार ऐसा कर रही है वैसा कर रही है। खरीदी जो करी है वह हरियाणा पंजाब से करी है। जितना सरकार के खिलाफ चला सकते हो चलाओं यही मौका है आग लगाने का।   प्रदेश में कोरोना की स्थिति नियंत्रण मेंवहीं मप्र के कोरोना की स्थिति को लेकर गृहमंत्री मिश्रा ने कहा कि मध्यप्रदेश में कोरोना निरंतर नियंत्रण में आता जा रहा है। अब प्रदेश का पॉजिटिविटी रेट 6प्रतिशत से नीचे 5.8 पर आ चुका है। उपचार के लिए पर्याप्त मात्रा में संसाधन उपलब्ध है, कहीं कोई कमी नहीं है न ऑक्सीजन की, न रेमडेसीविर इंजेक्शन की,  न आईसीयू की, ना बेड की। मध्य प्रदेश सरकार ने माकूल प्रबंध किए गए हैं अब हमारे पास ऑक्सीजन इंजेक्शन सब सर प्लस में है। उन्होंने कहा कि इंदौर, भोपाल हो या ग्वालियर अंचल सभी जगह स्थिति नियंत्रण में आती जा रही है। सिंगल डिजिट में आने के बाद पॉजिटिविटी रेट निरंतर कम हो रहा है।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


bhopal, viral video of Kamal Nath, Narottam counterattacked

भोपाल। मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ के सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे एक वीडियो ने हडक़ंप मचा दिया है। इस वीडियो में वे कांग्रेस नेता को किसानों और सरकार के बीच चल रहे विवाद को लेकर आग लगाने की बात कह रहे हैं। कमलनाथ के इस बयान को लेकर कांग्रेस सफाई दे रही है और इसे एडिट वीडियो बता रही है। वहीं मप्र के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कमलनाथ पर निशाना साधते हुए बड़ा बयान दिया है।    गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने शनिवार को मीडिया से बातचीत करते हुए कमलनाथ पर पलटवार किया है। उन्होंने कहा कि कमलनाथ जी की उत्पत्ति ही आग से हुई है, इमरजेंसी में वह भागीदार रहे हैं, 84 के दंगों में लोगों के घर जलाएं। अब मध्यप्रदेश को जलाने की बात कर रहे है। आपदा में कभी तो सेवा की बात कर लीजिए कमलनाथ जी। पूर्व सीएम कमलनाथ के बयान की निंदा करते हुए कहा कि वैश्विक आपदा कोरोना के बीच आज पूरे प्रदेश की जनता कमलनाथ जी का वह चेहरा देख रही है कि वे किस तरह प्रदेश को जलाने की कोशिश कर रहे हैं। आपदा काल में जब हर व्यक्ति जन सेवा में लगा है,तब कमलनाथ जी प्रदेश में आग लगाने की बात कर रहे हैं,यह निंदनीय है। उन्होंने तंज कसते हुए कहा कि हनी ट्रैप की पेनड्राइव का उनके पास होना सोच के साथ ही शोध का भी विषय है। मुख्यमंत्री रहते हुए पता नहीं कौन-कौन से उन्होंने दस्तावेज गायब किए होंगे।   बता दे कि वायरल वीडियो के अनुसार पूर्व सीएम कमलनाथ कह रहे हैं कि यही आग लगाने का मौका है। किसानों के साथ अन्याय हुआ है। सरकार के खिलाफ जमकर चलाओ सरकार ऐसा कर रही है वैसा कर रही है। खरीदी जो करी है वह हरियाणा पंजाब से करी है। जितना सरकार के खिलाफ चला सकते हो चलाओं यही मौका है आग लगाने का।   प्रदेश में कोरोना की स्थिति नियंत्रण मेंवहीं मप्र के कोरोना की स्थिति को लेकर गृहमंत्री मिश्रा ने कहा कि मध्यप्रदेश में कोरोना निरंतर नियंत्रण में आता जा रहा है। अब प्रदेश का पॉजिटिविटी रेट 6प्रतिशत से नीचे 5.8 पर आ चुका है। उपचार के लिए पर्याप्त मात्रा में संसाधन उपलब्ध है, कहीं कोई कमी नहीं है न ऑक्सीजन की, न रेमडेसीविर इंजेक्शन की,  न आईसीयू की, ना बेड की। मध्य प्रदेश सरकार ने माकूल प्रबंध किए गए हैं अब हमारे पास ऑक्सीजन इंजेक्शन सब सर प्लस में है। उन्होंने कहा कि इंदौर, भोपाल हो या ग्वालियर अंचल सभी जगह स्थिति नियंत्रण में आती जा रही है। सिंगल डिजिट में आने के बाद पॉजिटिविटी रेट निरंतर कम हो रहा है।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


bhopal, viral video of Kamal Nath, Narottam counterattacked

भोपाल। मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ के सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे एक वीडियो ने हडक़ंप मचा दिया है। इस वीडियो में वे कांग्रेस नेता को किसानों और सरकार के बीच चल रहे विवाद को लेकर आग लगाने की बात कह रहे हैं। कमलनाथ के इस बयान को लेकर कांग्रेस सफाई दे रही है और इसे एडिट वीडियो बता रही है। वहीं मप्र के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कमलनाथ पर निशाना साधते हुए बड़ा बयान दिया है।    गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने शनिवार को मीडिया से बातचीत करते हुए कमलनाथ पर पलटवार किया है। उन्होंने कहा कि कमलनाथ जी की उत्पत्ति ही आग से हुई है, इमरजेंसी में वह भागीदार रहे हैं, 84 के दंगों में लोगों के घर जलाएं। अब मध्यप्रदेश को जलाने की बात कर रहे है। आपदा में कभी तो सेवा की बात कर लीजिए कमलनाथ जी। पूर्व सीएम कमलनाथ के बयान की निंदा करते हुए कहा कि वैश्विक आपदा कोरोना के बीच आज पूरे प्रदेश की जनता कमलनाथ जी का वह चेहरा देख रही है कि वे किस तरह प्रदेश को जलाने की कोशिश कर रहे हैं। आपदा काल में जब हर व्यक्ति जन सेवा में लगा है,तब कमलनाथ जी प्रदेश में आग लगाने की बात कर रहे हैं,यह निंदनीय है। उन्होंने तंज कसते हुए कहा कि हनी ट्रैप की पेनड्राइव का उनके पास होना सोच के साथ ही शोध का भी विषय है। मुख्यमंत्री रहते हुए पता नहीं कौन-कौन से उन्होंने दस्तावेज गायब किए होंगे।   बता दे कि वायरल वीडियो के अनुसार पूर्व सीएम कमलनाथ कह रहे हैं कि यही आग लगाने का मौका है। किसानों के साथ अन्याय हुआ है। सरकार के खिलाफ जमकर चलाओ सरकार ऐसा कर रही है वैसा कर रही है। खरीदी जो करी है वह हरियाणा पंजाब से करी है। जितना सरकार के खिलाफ चला सकते हो चलाओं यही मौका है आग लगाने का।   प्रदेश में कोरोना की स्थिति नियंत्रण मेंवहीं मप्र के कोरोना की स्थिति को लेकर गृहमंत्री मिश्रा ने कहा कि मध्यप्रदेश में कोरोना निरंतर नियंत्रण में आता जा रहा है। अब प्रदेश का पॉजिटिविटी रेट 6प्रतिशत से नीचे 5.8 पर आ चुका है। उपचार के लिए पर्याप्त मात्रा में संसाधन उपलब्ध है, कहीं कोई कमी नहीं है न ऑक्सीजन की, न रेमडेसीविर इंजेक्शन की,  न आईसीयू की, ना बेड की। मध्य प्रदेश सरकार ने माकूल प्रबंध किए गए हैं अब हमारे पास ऑक्सीजन इंजेक्शन सब सर प्लस में है। उन्होंने कहा कि इंदौर, भोपाल हो या ग्वालियर अंचल सभी जगह स्थिति नियंत्रण में आती जा रही है। सिंगल डिजिट में आने के बाद पॉजिटिविटी रेट निरंतर कम हो रहा है।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


bhopal, viral video of Kamal Nath, Narottam counterattacked

भोपाल। मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ के सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे एक वीडियो ने हडक़ंप मचा दिया है। इस वीडियो में वे कांग्रेस नेता को किसानों और सरकार के बीच चल रहे विवाद को लेकर आग लगाने की बात कह रहे हैं। कमलनाथ के इस बयान को लेकर कांग्रेस सफाई दे रही है और इसे एडिट वीडियो बता रही है। वहीं मप्र के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कमलनाथ पर निशाना साधते हुए बड़ा बयान दिया है।    गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने शनिवार को मीडिया से बातचीत करते हुए कमलनाथ पर पलटवार किया है। उन्होंने कहा कि कमलनाथ जी की उत्पत्ति ही आग से हुई है, इमरजेंसी में वह भागीदार रहे हैं, 84 के दंगों में लोगों के घर जलाएं। अब मध्यप्रदेश को जलाने की बात कर रहे है। आपदा में कभी तो सेवा की बात कर लीजिए कमलनाथ जी। पूर्व सीएम कमलनाथ के बयान की निंदा करते हुए कहा कि वैश्विक आपदा कोरोना के बीच आज पूरे प्रदेश की जनता कमलनाथ जी का वह चेहरा देख रही है कि वे किस तरह प्रदेश को जलाने की कोशिश कर रहे हैं। आपदा काल में जब हर व्यक्ति जन सेवा में लगा है,तब कमलनाथ जी प्रदेश में आग लगाने की बात कर रहे हैं,यह निंदनीय है। उन्होंने तंज कसते हुए कहा कि हनी ट्रैप की पेनड्राइव का उनके पास होना सोच के साथ ही शोध का भी विषय है। मुख्यमंत्री रहते हुए पता नहीं कौन-कौन से उन्होंने दस्तावेज गायब किए होंगे।   बता दे कि वायरल वीडियो के अनुसार पूर्व सीएम कमलनाथ कह रहे हैं कि यही आग लगाने का मौका है। किसानों के साथ अन्याय हुआ है। सरकार के खिलाफ जमकर चलाओ सरकार ऐसा कर रही है वैसा कर रही है। खरीदी जो करी है वह हरियाणा पंजाब से करी है। जितना सरकार के खिलाफ चला सकते हो चलाओं यही मौका है आग लगाने का।   प्रदेश में कोरोना की स्थिति नियंत्रण मेंवहीं मप्र के कोरोना की स्थिति को लेकर गृहमंत्री मिश्रा ने कहा कि मध्यप्रदेश में कोरोना निरंतर नियंत्रण में आता जा रहा है। अब प्रदेश का पॉजिटिविटी रेट 6प्रतिशत से नीचे 5.8 पर आ चुका है। उपचार के लिए पर्याप्त मात्रा में संसाधन उपलब्ध है, कहीं कोई कमी नहीं है न ऑक्सीजन की, न रेमडेसीविर इंजेक्शन की,  न आईसीयू की, ना बेड की। मध्य प्रदेश सरकार ने माकूल प्रबंध किए गए हैं अब हमारे पास ऑक्सीजन इंजेक्शन सब सर प्लस में है। उन्होंने कहा कि इंदौर, भोपाल हो या ग्वालियर अंचल सभी जगह स्थिति नियंत्रण में आती जा रही है। सिंगल डिजिट में आने के बाद पॉजिटिविटी रेट निरंतर कम हो रहा है।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


bhopal, viral video of Kamal Nath, Narottam counterattacked

भोपाल। मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ के सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे एक वीडियो ने हडक़ंप मचा दिया है। इस वीडियो में वे कांग्रेस नेता को किसानों और सरकार के बीच चल रहे विवाद को लेकर आग लगाने की बात कह रहे हैं। कमलनाथ के इस बयान को लेकर कांग्रेस सफाई दे रही है और इसे एडिट वीडियो बता रही है। वहीं मप्र के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कमलनाथ पर निशाना साधते हुए बड़ा बयान दिया है।    गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने शनिवार को मीडिया से बातचीत करते हुए कमलनाथ पर पलटवार किया है। उन्होंने कहा कि कमलनाथ जी की उत्पत्ति ही आग से हुई है, इमरजेंसी में वह भागीदार रहे हैं, 84 के दंगों में लोगों के घर जलाएं। अब मध्यप्रदेश को जलाने की बात कर रहे है। आपदा में कभी तो सेवा की बात कर लीजिए कमलनाथ जी। पूर्व सीएम कमलनाथ के बयान की निंदा करते हुए कहा कि वैश्विक आपदा कोरोना के बीच आज पूरे प्रदेश की जनता कमलनाथ जी का वह चेहरा देख रही है कि वे किस तरह प्रदेश को जलाने की कोशिश कर रहे हैं। आपदा काल में जब हर व्यक्ति जन सेवा में लगा है,तब कमलनाथ जी प्रदेश में आग लगाने की बात कर रहे हैं,यह निंदनीय है। उन्होंने तंज कसते हुए कहा कि हनी ट्रैप की पेनड्राइव का उनके पास होना सोच के साथ ही शोध का भी विषय है। मुख्यमंत्री रहते हुए पता नहीं कौन-कौन से उन्होंने दस्तावेज गायब किए होंगे।   बता दे कि वायरल वीडियो के अनुसार पूर्व सीएम कमलनाथ कह रहे हैं कि यही आग लगाने का मौका है। किसानों के साथ अन्याय हुआ है। सरकार के खिलाफ जमकर चलाओ सरकार ऐसा कर रही है वैसा कर रही है। खरीदी जो करी है वह हरियाणा पंजाब से करी है। जितना सरकार के खिलाफ चला सकते हो चलाओं यही मौका है आग लगाने का।   प्रदेश में कोरोना की स्थिति नियंत्रण मेंवहीं मप्र के कोरोना की स्थिति को लेकर गृहमंत्री मिश्रा ने कहा कि मध्यप्रदेश में कोरोना निरंतर नियंत्रण में आता जा रहा है। अब प्रदेश का पॉजिटिविटी रेट 6प्रतिशत से नीचे 5.8 पर आ चुका है। उपचार के लिए पर्याप्त मात्रा में संसाधन उपलब्ध है, कहीं कोई कमी नहीं है न ऑक्सीजन की, न रेमडेसीविर इंजेक्शन की,  न आईसीयू की, ना बेड की। मध्य प्रदेश सरकार ने माकूल प्रबंध किए गए हैं अब हमारे पास ऑक्सीजन इंजेक्शन सब सर प्लस में है। उन्होंने कहा कि इंदौर, भोपाल हो या ग्वालियर अंचल सभी जगह स्थिति नियंत्रण में आती जा रही है। सिंगल डिजिट में आने के बाद पॉजिटिविटी रेट निरंतर कम हो रहा है।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


bhopal, viral video of Kamal Nath, Narottam counterattacked

भोपाल। मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ के सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे एक वीडियो ने हडक़ंप मचा दिया है। इस वीडियो में वे कांग्रेस नेता को किसानों और सरकार के बीच चल रहे विवाद को लेकर आग लगाने की बात कह रहे हैं। कमलनाथ के इस बयान को लेकर कांग्रेस सफाई दे रही है और इसे एडिट वीडियो बता रही है। वहीं मप्र के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कमलनाथ पर निशाना साधते हुए बड़ा बयान दिया है।    गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने शनिवार को मीडिया से बातचीत करते हुए कमलनाथ पर पलटवार किया है। उन्होंने कहा कि कमलनाथ जी की उत्पत्ति ही आग से हुई है, इमरजेंसी में वह भागीदार रहे हैं, 84 के दंगों में लोगों के घर जलाएं। अब मध्यप्रदेश को जलाने की बात कर रहे है। आपदा में कभी तो सेवा की बात कर लीजिए कमलनाथ जी। पूर्व सीएम कमलनाथ के बयान की निंदा करते हुए कहा कि वैश्विक आपदा कोरोना के बीच आज पूरे प्रदेश की जनता कमलनाथ जी का वह चेहरा देख रही है कि वे किस तरह प्रदेश को जलाने की कोशिश कर रहे हैं। आपदा काल में जब हर व्यक्ति जन सेवा में लगा है,तब कमलनाथ जी प्रदेश में आग लगाने की बात कर रहे हैं,यह निंदनीय है। उन्होंने तंज कसते हुए कहा कि हनी ट्रैप की पेनड्राइव का उनके पास होना सोच के साथ ही शोध का भी विषय है। मुख्यमंत्री रहते हुए पता नहीं कौन-कौन से उन्होंने दस्तावेज गायब किए होंगे।   बता दे कि वायरल वीडियो के अनुसार पूर्व सीएम कमलनाथ कह रहे हैं कि यही आग लगाने का मौका है। किसानों के साथ अन्याय हुआ है। सरकार के खिलाफ जमकर चलाओ सरकार ऐसा कर रही है वैसा कर रही है। खरीदी जो करी है वह हरियाणा पंजाब से करी है। जितना सरकार के खिलाफ चला सकते हो चलाओं यही मौका है आग लगाने का।   प्रदेश में कोरोना की स्थिति नियंत्रण मेंवहीं मप्र के कोरोना की स्थिति को लेकर गृहमंत्री मिश्रा ने कहा कि मध्यप्रदेश में कोरोना निरंतर नियंत्रण में आता जा रहा है। अब प्रदेश का पॉजिटिविटी रेट 6प्रतिशत से नीचे 5.8 पर आ चुका है। उपचार के लिए पर्याप्त मात्रा में संसाधन उपलब्ध है, कहीं कोई कमी नहीं है न ऑक्सीजन की, न रेमडेसीविर इंजेक्शन की,  न आईसीयू की, ना बेड की। मध्य प्रदेश सरकार ने माकूल प्रबंध किए गए हैं अब हमारे पास ऑक्सीजन इंजेक्शन सब सर प्लस में है। उन्होंने कहा कि इंदौर, भोपाल हो या ग्वालियर अंचल सभी जगह स्थिति नियंत्रण में आती जा रही है। सिंगल डिजिट में आने के बाद पॉजिटिविटी रेट निरंतर कम हो रहा है।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


bhopal, viral video of Kamal Nath, Narottam counterattacked

भोपाल। मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ के सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे एक वीडियो ने हडक़ंप मचा दिया है। इस वीडियो में वे कांग्रेस नेता को किसानों और सरकार के बीच चल रहे विवाद को लेकर आग लगाने की बात कह रहे हैं। कमलनाथ के इस बयान को लेकर कांग्रेस सफाई दे रही है और इसे एडिट वीडियो बता रही है। वहीं मप्र के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कमलनाथ पर निशाना साधते हुए बड़ा बयान दिया है।    गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने शनिवार को मीडिया से बातचीत करते हुए कमलनाथ पर पलटवार किया है। उन्होंने कहा कि कमलनाथ जी की उत्पत्ति ही आग से हुई है, इमरजेंसी में वह भागीदार रहे हैं, 84 के दंगों में लोगों के घर जलाएं। अब मध्यप्रदेश को जलाने की बात कर रहे है। आपदा में कभी तो सेवा की बात कर लीजिए कमलनाथ जी। पूर्व सीएम कमलनाथ के बयान की निंदा करते हुए कहा कि वैश्विक आपदा कोरोना के बीच आज पूरे प्रदेश की जनता कमलनाथ जी का वह चेहरा देख रही है कि वे किस तरह प्रदेश को जलाने की कोशिश कर रहे हैं। आपदा काल में जब हर व्यक्ति जन सेवा में लगा है,तब कमलनाथ जी प्रदेश में आग लगाने की बात कर रहे हैं,यह निंदनीय है। उन्होंने तंज कसते हुए कहा कि हनी ट्रैप की पेनड्राइव का उनके पास होना सोच के साथ ही शोध का भी विषय है। मुख्यमंत्री रहते हुए पता नहीं कौन-कौन से उन्होंने दस्तावेज गायब किए होंगे।   बता दे कि वायरल वीडियो के अनुसार पूर्व सीएम कमलनाथ कह रहे हैं कि यही आग लगाने का मौका है। किसानों के साथ अन्याय हुआ है। सरकार के खिलाफ जमकर चलाओ सरकार ऐसा कर रही है वैसा कर रही है। खरीदी जो करी है वह हरियाणा पंजाब से करी है। जितना सरकार के खिलाफ चला सकते हो चलाओं यही मौका है आग लगाने का।   प्रदेश में कोरोना की स्थिति नियंत्रण मेंवहीं मप्र के कोरोना की स्थिति को लेकर गृहमंत्री मिश्रा ने कहा कि मध्यप्रदेश में कोरोना निरंतर नियंत्रण में आता जा रहा है। अब प्रदेश का पॉजिटिविटी रेट 6प्रतिशत से नीचे 5.8 पर आ चुका है। उपचार के लिए पर्याप्त मात्रा में संसाधन उपलब्ध है, कहीं कोई कमी नहीं है न ऑक्सीजन की, न रेमडेसीविर इंजेक्शन की,  न आईसीयू की, ना बेड की। मध्य प्रदेश सरकार ने माकूल प्रबंध किए गए हैं अब हमारे पास ऑक्सीजन इंजेक्शन सब सर प्लस में है। उन्होंने कहा कि इंदौर, भोपाल हो या ग्वालियर अंचल सभी जगह स्थिति नियंत्रण में आती जा रही है। सिंगल डिजिट में आने के बाद पॉजिटिविटी रेट निरंतर कम हो रहा है।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


bhopal, viral video of Kamal Nath, Narottam counterattacked

भोपाल। मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ के सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे एक वीडियो ने हडक़ंप मचा दिया है। इस वीडियो में वे कांग्रेस नेता को किसानों और सरकार के बीच चल रहे विवाद को लेकर आग लगाने की बात कह रहे हैं। कमलनाथ के इस बयान को लेकर कांग्रेस सफाई दे रही है और इसे एडिट वीडियो बता रही है। वहीं मप्र के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कमलनाथ पर निशाना साधते हुए बड़ा बयान दिया है।    गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने शनिवार को मीडिया से बातचीत करते हुए कमलनाथ पर पलटवार किया है। उन्होंने कहा कि कमलनाथ जी की उत्पत्ति ही आग से हुई है, इमरजेंसी में वह भागीदार रहे हैं, 84 के दंगों में लोगों के घर जलाएं। अब मध्यप्रदेश को जलाने की बात कर रहे है। आपदा में कभी तो सेवा की बात कर लीजिए कमलनाथ जी। पूर्व सीएम कमलनाथ के बयान की निंदा करते हुए कहा कि वैश्विक आपदा कोरोना के बीच आज पूरे प्रदेश की जनता कमलनाथ जी का वह चेहरा देख रही है कि वे किस तरह प्रदेश को जलाने की कोशिश कर रहे हैं। आपदा काल में जब हर व्यक्ति जन सेवा में लगा है,तब कमलनाथ जी प्रदेश में आग लगाने की बात कर रहे हैं,यह निंदनीय है। उन्होंने तंज कसते हुए कहा कि हनी ट्रैप की पेनड्राइव का उनके पास होना सोच के साथ ही शोध का भी विषय है। मुख्यमंत्री रहते हुए पता नहीं कौन-कौन से उन्होंने दस्तावेज गायब किए होंगे।   बता दे कि वायरल वीडियो के अनुसार पूर्व सीएम कमलनाथ कह रहे हैं कि यही आग लगाने का मौका है। किसानों के साथ अन्याय हुआ है। सरकार के खिलाफ जमकर चलाओ सरकार ऐसा कर रही है वैसा कर रही है। खरीदी जो करी है वह हरियाणा पंजाब से करी है। जितना सरकार के खिलाफ चला सकते हो चलाओं यही मौका है आग लगाने का।   प्रदेश में कोरोना की स्थिति नियंत्रण मेंवहीं मप्र के कोरोना की स्थिति को लेकर गृहमंत्री मिश्रा ने कहा कि मध्यप्रदेश में कोरोना निरंतर नियंत्रण में आता जा रहा है। अब प्रदेश का पॉजिटिविटी रेट 6प्रतिशत से नीचे 5.8 पर आ चुका है। उपचार के लिए पर्याप्त मात्रा में संसाधन उपलब्ध है, कहीं कोई कमी नहीं है न ऑक्सीजन की, न रेमडेसीविर इंजेक्शन की,  न आईसीयू की, ना बेड की। मध्य प्रदेश सरकार ने माकूल प्रबंध किए गए हैं अब हमारे पास ऑक्सीजन इंजेक्शन सब सर प्लस में है। उन्होंने कहा कि इंदौर, भोपाल हो या ग्वालियर अंचल सभी जगह स्थिति नियंत्रण में आती जा रही है। सिंगल डिजिट में आने के बाद पॉजिटिविटी रेट निरंतर कम हो रहा है।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


bhopal, viral video of Kamal Nath, Narottam counterattacked

भोपाल। मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ के सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे एक वीडियो ने हडक़ंप मचा दिया है। इस वीडियो में वे कांग्रेस नेता को किसानों और सरकार के बीच चल रहे विवाद को लेकर आग लगाने की बात कह रहे हैं। कमलनाथ के इस बयान को लेकर कांग्रेस सफाई दे रही है और इसे एडिट वीडियो बता रही है। वहीं मप्र के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कमलनाथ पर निशाना साधते हुए बड़ा बयान दिया है।    गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने शनिवार को मीडिया से बातचीत करते हुए कमलनाथ पर पलटवार किया है। उन्होंने कहा कि कमलनाथ जी की उत्पत्ति ही आग से हुई है, इमरजेंसी में वह भागीदार रहे हैं, 84 के दंगों में लोगों के घर जलाएं। अब मध्यप्रदेश को जलाने की बात कर रहे है। आपदा में कभी तो सेवा की बात कर लीजिए कमलनाथ जी। पूर्व सीएम कमलनाथ के बयान की निंदा करते हुए कहा कि वैश्विक आपदा कोरोना के बीच आज पूरे प्रदेश की जनता कमलनाथ जी का वह चेहरा देख रही है कि वे किस तरह प्रदेश को जलाने की कोशिश कर रहे हैं। आपदा काल में जब हर व्यक्ति जन सेवा में लगा है,तब कमलनाथ जी प्रदेश में आग लगाने की बात कर रहे हैं,यह निंदनीय है। उन्होंने तंज कसते हुए कहा कि हनी ट्रैप की पेनड्राइव का उनके पास होना सोच के साथ ही शोध का भी विषय है। मुख्यमंत्री रहते हुए पता नहीं कौन-कौन से उन्होंने दस्तावेज गायब किए होंगे।   बता दे कि वायरल वीडियो के अनुसार पूर्व सीएम कमलनाथ कह रहे हैं कि यही आग लगाने का मौका है। किसानों के साथ अन्याय हुआ है। सरकार के खिलाफ जमकर चलाओ सरकार ऐसा कर रही है वैसा कर रही है। खरीदी जो करी है वह हरियाणा पंजाब से करी है। जितना सरकार के खिलाफ चला सकते हो चलाओं यही मौका है आग लगाने का।   प्रदेश में कोरोना की स्थिति नियंत्रण मेंवहीं मप्र के कोरोना की स्थिति को लेकर गृहमंत्री मिश्रा ने कहा कि मध्यप्रदेश में कोरोना निरंतर नियंत्रण में आता जा रहा है। अब प्रदेश का पॉजिटिविटी रेट 6प्रतिशत से नीचे 5.8 पर आ चुका है। उपचार के लिए पर्याप्त मात्रा में संसाधन उपलब्ध है, कहीं कोई कमी नहीं है न ऑक्सीजन की, न रेमडेसीविर इंजेक्शन की,  न आईसीयू की, ना बेड की। मध्य प्रदेश सरकार ने माकूल प्रबंध किए गए हैं अब हमारे पास ऑक्सीजन इंजेक्शन सब सर प्लस में है। उन्होंने कहा कि इंदौर, भोपाल हो या ग्वालियर अंचल सभी जगह स्थिति नियंत्रण में आती जा रही है। सिंगल डिजिट में आने के बाद पॉजिटिविटी रेट निरंतर कम हो रहा है।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


bhopal, viral video of Kamal Nath, Narottam counterattacked

भोपाल। मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ के सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे एक वीडियो ने हडक़ंप मचा दिया है। इस वीडियो में वे कांग्रेस नेता को किसानों और सरकार के बीच चल रहे विवाद को लेकर आग लगाने की बात कह रहे हैं। कमलनाथ के इस बयान को लेकर कांग्रेस सफाई दे रही है और इसे एडिट वीडियो बता रही है। वहीं मप्र के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कमलनाथ पर निशाना साधते हुए बड़ा बयान दिया है।    गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने शनिवार को मीडिया से बातचीत करते हुए कमलनाथ पर पलटवार किया है। उन्होंने कहा कि कमलनाथ जी की उत्पत्ति ही आग से हुई है, इमरजेंसी में वह भागीदार रहे हैं, 84 के दंगों में लोगों के घर जलाएं। अब मध्यप्रदेश को जलाने की बात कर रहे है। आपदा में कभी तो सेवा की बात कर लीजिए कमलनाथ जी। पूर्व सीएम कमलनाथ के बयान की निंदा करते हुए कहा कि वैश्विक आपदा कोरोना के बीच आज पूरे प्रदेश की जनता कमलनाथ जी का वह चेहरा देख रही है कि वे किस तरह प्रदेश को जलाने की कोशिश कर रहे हैं। आपदा काल में जब हर व्यक्ति जन सेवा में लगा है,तब कमलनाथ जी प्रदेश में आग लगाने की बात कर रहे हैं,यह निंदनीय है। उन्होंने तंज कसते हुए कहा कि हनी ट्रैप की पेनड्राइव का उनके पास होना सोच के साथ ही शोध का भी विषय है। मुख्यमंत्री रहते हुए पता नहीं कौन-कौन से उन्होंने दस्तावेज गायब किए होंगे।   बता दे कि वायरल वीडियो के अनुसार पूर्व सीएम कमलनाथ कह रहे हैं कि यही आग लगाने का मौका है। किसानों के साथ अन्याय हुआ है। सरकार के खिलाफ जमकर चलाओ सरकार ऐसा कर रही है वैसा कर रही है। खरीदी जो करी है वह हरियाणा पंजाब से करी है। जितना सरकार के खिलाफ चला सकते हो चलाओं यही मौका है आग लगाने का।   प्रदेश में कोरोना की स्थिति नियंत्रण मेंवहीं मप्र के कोरोना की स्थिति को लेकर गृहमंत्री मिश्रा ने कहा कि मध्यप्रदेश में कोरोना निरंतर नियंत्रण में आता जा रहा है। अब प्रदेश का पॉजिटिविटी रेट 6प्रतिशत से नीचे 5.8 पर आ चुका है। उपचार के लिए पर्याप्त मात्रा में संसाधन उपलब्ध है, कहीं कोई कमी नहीं है न ऑक्सीजन की, न रेमडेसीविर इंजेक्शन की,  न आईसीयू की, ना बेड की। मध्य प्रदेश सरकार ने माकूल प्रबंध किए गए हैं अब हमारे पास ऑक्सीजन इंजेक्शन सब सर प्लस में है। उन्होंने कहा कि इंदौर, भोपाल हो या ग्वालियर अंचल सभी जगह स्थिति नियंत्रण में आती जा रही है। सिंगल डिजिट में आने के बाद पॉजिटिविटी रेट निरंतर कम हो रहा है।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


bhopal, viral video of Kamal Nath, Narottam counterattacked

भोपाल। मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ के सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे एक वीडियो ने हडक़ंप मचा दिया है। इस वीडियो में वे कांग्रेस नेता को किसानों और सरकार के बीच चल रहे विवाद को लेकर आग लगाने की बात कह रहे हैं। कमलनाथ के इस बयान को लेकर कांग्रेस सफाई दे रही है और इसे एडिट वीडियो बता रही है। वहीं मप्र के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कमलनाथ पर निशाना साधते हुए बड़ा बयान दिया है।    गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने शनिवार को मीडिया से बातचीत करते हुए कमलनाथ पर पलटवार किया है। उन्होंने कहा कि कमलनाथ जी की उत्पत्ति ही आग से हुई है, इमरजेंसी में वह भागीदार रहे हैं, 84 के दंगों में लोगों के घर जलाएं। अब मध्यप्रदेश को जलाने की बात कर रहे है। आपदा में कभी तो सेवा की बात कर लीजिए कमलनाथ जी। पूर्व सीएम कमलनाथ के बयान की निंदा करते हुए कहा कि वैश्विक आपदा कोरोना के बीच आज पूरे प्रदेश की जनता कमलनाथ जी का वह चेहरा देख रही है कि वे किस तरह प्रदेश को जलाने की कोशिश कर रहे हैं। आपदा काल में जब हर व्यक्ति जन सेवा में लगा है,तब कमलनाथ जी प्रदेश में आग लगाने की बात कर रहे हैं,यह निंदनीय है। उन्होंने तंज कसते हुए कहा कि हनी ट्रैप की पेनड्राइव का उनके पास होना सोच के साथ ही शोध का भी विषय है। मुख्यमंत्री रहते हुए पता नहीं कौन-कौन से उन्होंने दस्तावेज गायब किए होंगे।   बता दे कि वायरल वीडियो के अनुसार पूर्व सीएम कमलनाथ कह रहे हैं कि यही आग लगाने का मौका है। किसानों के साथ अन्याय हुआ है। सरकार के खिलाफ जमकर चलाओ सरकार ऐसा कर रही है वैसा कर रही है। खरीदी जो करी है वह हरियाणा पंजाब से करी है। जितना सरकार के खिलाफ चला सकते हो चलाओं यही मौका है आग लगाने का।   प्रदेश में कोरोना की स्थिति नियंत्रण मेंवहीं मप्र के कोरोना की स्थिति को लेकर गृहमंत्री मिश्रा ने कहा कि मध्यप्रदेश में कोरोना निरंतर नियंत्रण में आता जा रहा है। अब प्रदेश का पॉजिटिविटी रेट 6प्रतिशत से नीचे 5.8 पर आ चुका है। उपचार के लिए पर्याप्त मात्रा में संसाधन उपलब्ध है, कहीं कोई कमी नहीं है न ऑक्सीजन की, न रेमडेसीविर इंजेक्शन की,  न आईसीयू की, ना बेड की। मध्य प्रदेश सरकार ने माकूल प्रबंध किए गए हैं अब हमारे पास ऑक्सीजन इंजेक्शन सब सर प्लस में है। उन्होंने कहा कि इंदौर, भोपाल हो या ग्वालियर अंचल सभी जगह स्थिति नियंत्रण में आती जा रही है। सिंगल डिजिट में आने के बाद पॉजिटिविटी रेट निरंतर कम हो रहा है।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


bhopal, viral video of Kamal Nath, Narottam counterattacked

भोपाल। मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ के सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे एक वीडियो ने हडक़ंप मचा दिया है। इस वीडियो में वे कांग्रेस नेता को किसानों और सरकार के बीच चल रहे विवाद को लेकर आग लगाने की बात कह रहे हैं। कमलनाथ के इस बयान को लेकर कांग्रेस सफाई दे रही है और इसे एडिट वीडियो बता रही है। वहीं मप्र के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कमलनाथ पर निशाना साधते हुए बड़ा बयान दिया है।    गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने शनिवार को मीडिया से बातचीत करते हुए कमलनाथ पर पलटवार किया है। उन्होंने कहा कि कमलनाथ जी की उत्पत्ति ही आग से हुई है, इमरजेंसी में वह भागीदार रहे हैं, 84 के दंगों में लोगों के घर जलाएं। अब मध्यप्रदेश को जलाने की बात कर रहे है। आपदा में कभी तो सेवा की बात कर लीजिए कमलनाथ जी। पूर्व सीएम कमलनाथ के बयान की निंदा करते हुए कहा कि वैश्विक आपदा कोरोना के बीच आज पूरे प्रदेश की जनता कमलनाथ जी का वह चेहरा देख रही है कि वे किस तरह प्रदेश को जलाने की कोशिश कर रहे हैं। आपदा काल में जब हर व्यक्ति जन सेवा में लगा है,तब कमलनाथ जी प्रदेश में आग लगाने की बात कर रहे हैं,यह निंदनीय है। उन्होंने तंज कसते हुए कहा कि हनी ट्रैप की पेनड्राइव का उनके पास होना सोच के साथ ही शोध का भी विषय है। मुख्यमंत्री रहते हुए पता नहीं कौन-कौन से उन्होंने दस्तावेज गायब किए होंगे।   बता दे कि वायरल वीडियो के अनुसार पूर्व सीएम कमलनाथ कह रहे हैं कि यही आग लगाने का मौका है। किसानों के साथ अन्याय हुआ है। सरकार के खिलाफ जमकर चलाओ सरकार ऐसा कर रही है वैसा कर रही है। खरीदी जो करी है वह हरियाणा पंजाब से करी है। जितना सरकार के खिलाफ चला सकते हो चलाओं यही मौका है आग लगाने का।   प्रदेश में कोरोना की स्थिति नियंत्रण मेंवहीं मप्र के कोरोना की स्थिति को लेकर गृहमंत्री मिश्रा ने कहा कि मध्यप्रदेश में कोरोना निरंतर नियंत्रण में आता जा रहा है। अब प्रदेश का पॉजिटिविटी रेट 6प्रतिशत से नीचे 5.8 पर आ चुका है। उपचार के लिए पर्याप्त मात्रा में संसाधन उपलब्ध है, कहीं कोई कमी नहीं है न ऑक्सीजन की, न रेमडेसीविर इंजेक्शन की,  न आईसीयू की, ना बेड की। मध्य प्रदेश सरकार ने माकूल प्रबंध किए गए हैं अब हमारे पास ऑक्सीजन इंजेक्शन सब सर प्लस में है। उन्होंने कहा कि इंदौर, भोपाल हो या ग्वालियर अंचल सभी जगह स्थिति नियंत्रण में आती जा रही है। सिंगल डिजिट में आने के बाद पॉजिटिविटी रेट निरंतर कम हो रहा है।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


bhopal, viral video of Kamal Nath, Narottam counterattacked

भोपाल। मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ के सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे एक वीडियो ने हडक़ंप मचा दिया है। इस वीडियो में वे कांग्रेस नेता को किसानों और सरकार के बीच चल रहे विवाद को लेकर आग लगाने की बात कह रहे हैं। कमलनाथ के इस बयान को लेकर कांग्रेस सफाई दे रही है और इसे एडिट वीडियो बता रही है। वहीं मप्र के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कमलनाथ पर निशाना साधते हुए बड़ा बयान दिया है।    गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने शनिवार को मीडिया से बातचीत करते हुए कमलनाथ पर पलटवार किया है। उन्होंने कहा कि कमलनाथ जी की उत्पत्ति ही आग से हुई है, इमरजेंसी में वह भागीदार रहे हैं, 84 के दंगों में लोगों के घर जलाएं। अब मध्यप्रदेश को जलाने की बात कर रहे है। आपदा में कभी तो सेवा की बात कर लीजिए कमलनाथ जी। पूर्व सीएम कमलनाथ के बयान की निंदा करते हुए कहा कि वैश्विक आपदा कोरोना के बीच आज पूरे प्रदेश की जनता कमलनाथ जी का वह चेहरा देख रही है कि वे किस तरह प्रदेश को जलाने की कोशिश कर रहे हैं। आपदा काल में जब हर व्यक्ति जन सेवा में लगा है,तब कमलनाथ जी प्रदेश में आग लगाने की बात कर रहे हैं,यह निंदनीय है। उन्होंने तंज कसते हुए कहा कि हनी ट्रैप की पेनड्राइव का उनके पास होना सोच के साथ ही शोध का भी विषय है। मुख्यमंत्री रहते हुए पता नहीं कौन-कौन से उन्होंने दस्तावेज गायब किए होंगे।   बता दे कि वायरल वीडियो के अनुसार पूर्व सीएम कमलनाथ कह रहे हैं कि यही आग लगाने का मौका है। किसानों के साथ अन्याय हुआ है। सरकार के खिलाफ जमकर चलाओ सरकार ऐसा कर रही है वैसा कर रही है। खरीदी जो करी है वह हरियाणा पंजाब से करी है। जितना सरकार के खिलाफ चला सकते हो चलाओं यही मौका है आग लगाने का।   प्रदेश में कोरोना की स्थिति नियंत्रण मेंवहीं मप्र के कोरोना की स्थिति को लेकर गृहमंत्री मिश्रा ने कहा कि मध्यप्रदेश में कोरोना निरंतर नियंत्रण में आता जा रहा है। अब प्रदेश का पॉजिटिविटी रेट 6प्रतिशत से नीचे 5.8 पर आ चुका है। उपचार के लिए पर्याप्त मात्रा में संसाधन उपलब्ध है, कहीं कोई कमी नहीं है न ऑक्सीजन की, न रेमडेसीविर इंजेक्शन की,  न आईसीयू की, ना बेड की। मध्य प्रदेश सरकार ने माकूल प्रबंध किए गए हैं अब हमारे पास ऑक्सीजन इंजेक्शन सब सर प्लस में है। उन्होंने कहा कि इंदौर, भोपाल हो या ग्वालियर अंचल सभी जगह स्थिति नियंत्रण में आती जा रही है। सिंगल डिजिट में आने के बाद पॉजिटिविटी रेट निरंतर कम हो रहा है।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


bhopal, viral video of Kamal Nath, Narottam counterattacked

भोपाल। मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ के सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे एक वीडियो ने हडक़ंप मचा दिया है। इस वीडियो में वे कांग्रेस नेता को किसानों और सरकार के बीच चल रहे विवाद को लेकर आग लगाने की बात कह रहे हैं। कमलनाथ के इस बयान को लेकर कांग्रेस सफाई दे रही है और इसे एडिट वीडियो बता रही है। वहीं मप्र के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कमलनाथ पर निशाना साधते हुए बड़ा बयान दिया है।    गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने शनिवार को मीडिया से बातचीत करते हुए कमलनाथ पर पलटवार किया है। उन्होंने कहा कि कमलनाथ जी की उत्पत्ति ही आग से हुई है, इमरजेंसी में वह भागीदार रहे हैं, 84 के दंगों में लोगों के घर जलाएं। अब मध्यप्रदेश को जलाने की बात कर रहे है। आपदा में कभी तो सेवा की बात कर लीजिए कमलनाथ जी। पूर्व सीएम कमलनाथ के बयान की निंदा करते हुए कहा कि वैश्विक आपदा कोरोना के बीच आज पूरे प्रदेश की जनता कमलनाथ जी का वह चेहरा देख रही है कि वे किस तरह प्रदेश को जलाने की कोशिश कर रहे हैं। आपदा काल में जब हर व्यक्ति जन सेवा में लगा है,तब कमलनाथ जी प्रदेश में आग लगाने की बात कर रहे हैं,यह निंदनीय है। उन्होंने तंज कसते हुए कहा कि हनी ट्रैप की पेनड्राइव का उनके पास होना सोच के साथ ही शोध का भी विषय है। मुख्यमंत्री रहते हुए पता नहीं कौन-कौन से उन्होंने दस्तावेज गायब किए होंगे।   बता दे कि वायरल वीडियो के अनुसार पूर्व सीएम कमलनाथ कह रहे हैं कि यही आग लगाने का मौका है। किसानों के साथ अन्याय हुआ है। सरकार के खिलाफ जमकर चलाओ सरकार ऐसा कर रही है वैसा कर रही है। खरीदी जो करी है वह हरियाणा पंजाब से करी है। जितना सरकार के खिलाफ चला सकते हो चलाओं यही मौका है आग लगाने का।   प्रदेश में कोरोना की स्थिति नियंत्रण मेंवहीं मप्र के कोरोना की स्थिति को लेकर गृहमंत्री मिश्रा ने कहा कि मध्यप्रदेश में कोरोना निरंतर नियंत्रण में आता जा रहा है। अब प्रदेश का पॉजिटिविटी रेट 6प्रतिशत से नीचे 5.8 पर आ चुका है। उपचार के लिए पर्याप्त मात्रा में संसाधन उपलब्ध है, कहीं कोई कमी नहीं है न ऑक्सीजन की, न रेमडेसीविर इंजेक्शन की,  न आईसीयू की, ना बेड की। मध्य प्रदेश सरकार ने माकूल प्रबंध किए गए हैं अब हमारे पास ऑक्सीजन इंजेक्शन सब सर प्लस में है। उन्होंने कहा कि इंदौर, भोपाल हो या ग्वालियर अंचल सभी जगह स्थिति नियंत्रण में आती जा रही है। सिंगल डिजिट में आने के बाद पॉजिटिविटी रेट निरंतर कम हो रहा है।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


bhopal, viral video of Kamal Nath, Narottam counterattacked

भोपाल। मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ के सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे एक वीडियो ने हडक़ंप मचा दिया है। इस वीडियो में वे कांग्रेस नेता को किसानों और सरकार के बीच चल रहे विवाद को लेकर आग लगाने की बात कह रहे हैं। कमलनाथ के इस बयान को लेकर कांग्रेस सफाई दे रही है और इसे एडिट वीडियो बता रही है। वहीं मप्र के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कमलनाथ पर निशाना साधते हुए बड़ा बयान दिया है।    गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने शनिवार को मीडिया से बातचीत करते हुए कमलनाथ पर पलटवार किया है। उन्होंने कहा कि कमलनाथ जी की उत्पत्ति ही आग से हुई है, इमरजेंसी में वह भागीदार रहे हैं, 84 के दंगों में लोगों के घर जलाएं। अब मध्यप्रदेश को जलाने की बात कर रहे है। आपदा में कभी तो सेवा की बात कर लीजिए कमलनाथ जी। पूर्व सीएम कमलनाथ के बयान की निंदा करते हुए कहा कि वैश्विक आपदा कोरोना के बीच आज पूरे प्रदेश की जनता कमलनाथ जी का वह चेहरा देख रही है कि वे किस तरह प्रदेश को जलाने की कोशिश कर रहे हैं। आपदा काल में जब हर व्यक्ति जन सेवा में लगा है,तब कमलनाथ जी प्रदेश में आग लगाने की बात कर रहे हैं,यह निंदनीय है। उन्होंने तंज कसते हुए कहा कि हनी ट्रैप की पेनड्राइव का उनके पास होना सोच के साथ ही शोध का भी विषय है। मुख्यमंत्री रहते हुए पता नहीं कौन-कौन से उन्होंने दस्तावेज गायब किए होंगे।   बता दे कि वायरल वीडियो के अनुसार पूर्व सीएम कमलनाथ कह रहे हैं कि यही आग लगाने का मौका है। किसानों के साथ अन्याय हुआ है। सरकार के खिलाफ जमकर चलाओ सरकार ऐसा कर रही है वैसा कर रही है। खरीदी जो करी है वह हरियाणा पंजाब से करी है। जितना सरकार के खिलाफ चला सकते हो चलाओं यही मौका है आग लगाने का।   प्रदेश में कोरोना की स्थिति नियंत्रण मेंवहीं मप्र के कोरोना की स्थिति को लेकर गृहमंत्री मिश्रा ने कहा कि मध्यप्रदेश में कोरोना निरंतर नियंत्रण में आता जा रहा है। अब प्रदेश का पॉजिटिविटी रेट 6प्रतिशत से नीचे 5.8 पर आ चुका है। उपचार के लिए पर्याप्त मात्रा में संसाधन उपलब्ध है, कहीं कोई कमी नहीं है न ऑक्सीजन की, न रेमडेसीविर इंजेक्शन की,  न आईसीयू की, ना बेड की। मध्य प्रदेश सरकार ने माकूल प्रबंध किए गए हैं अब हमारे पास ऑक्सीजन इंजेक्शन सब सर प्लस में है। उन्होंने कहा कि इंदौर, भोपाल हो या ग्वालियर अंचल सभी जगह स्थिति नियंत्रण में आती जा रही है। सिंगल डिजिट में आने के बाद पॉजिटिविटी रेट निरंतर कम हो रहा है।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


bhopal, viral video of Kamal Nath, Narottam counterattacked

भोपाल। मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ के सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे एक वीडियो ने हडक़ंप मचा दिया है। इस वीडियो में वे कांग्रेस नेता को किसानों और सरकार के बीच चल रहे विवाद को लेकर आग लगाने की बात कह रहे हैं। कमलनाथ के इस बयान को लेकर कांग्रेस सफाई दे रही है और इसे एडिट वीडियो बता रही है। वहीं मप्र के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कमलनाथ पर निशाना साधते हुए बड़ा बयान दिया है।    गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने शनिवार को मीडिया से बातचीत करते हुए कमलनाथ पर पलटवार किया है। उन्होंने कहा कि कमलनाथ जी की उत्पत्ति ही आग से हुई है, इमरजेंसी में वह भागीदार रहे हैं, 84 के दंगों में लोगों के घर जलाएं। अब मध्यप्रदेश को जलाने की बात कर रहे है। आपदा में कभी तो सेवा की बात कर लीजिए कमलनाथ जी। पूर्व सीएम कमलनाथ के बयान की निंदा करते हुए कहा कि वैश्विक आपदा कोरोना के बीच आज पूरे प्रदेश की जनता कमलनाथ जी का वह चेहरा देख रही है कि वे किस तरह प्रदेश को जलाने की कोशिश कर रहे हैं। आपदा काल में जब हर व्यक्ति जन सेवा में लगा है,तब कमलनाथ जी प्रदेश में आग लगाने की बात कर रहे हैं,यह निंदनीय है। उन्होंने तंज कसते हुए कहा कि हनी ट्रैप की पेनड्राइव का उनके पास होना सोच के साथ ही शोध का भी विषय है। मुख्यमंत्री रहते हुए पता नहीं कौन-कौन से उन्होंने दस्तावेज गायब किए होंगे।   बता दे कि वायरल वीडियो के अनुसार पूर्व सीएम कमलनाथ कह रहे हैं कि यही आग लगाने का मौका है। किसानों के साथ अन्याय हुआ है। सरकार के खिलाफ जमकर चलाओ सरकार ऐसा कर रही है वैसा कर रही है। खरीदी जो करी है वह हरियाणा पंजाब से करी है। जितना सरकार के खिलाफ चला सकते हो चलाओं यही मौका है आग लगाने का।   प्रदेश में कोरोना की स्थिति नियंत्रण मेंवहीं मप्र के कोरोना की स्थिति को लेकर गृहमंत्री मिश्रा ने कहा कि मध्यप्रदेश में कोरोना निरंतर नियंत्रण में आता जा रहा है। अब प्रदेश का पॉजिटिविटी रेट 6प्रतिशत से नीचे 5.8 पर आ चुका है। उपचार के लिए पर्याप्त मात्रा में संसाधन उपलब्ध है, कहीं कोई कमी नहीं है न ऑक्सीजन की, न रेमडेसीविर इंजेक्शन की,  न आईसीयू की, ना बेड की। मध्य प्रदेश सरकार ने माकूल प्रबंध किए गए हैं अब हमारे पास ऑक्सीजन इंजेक्शन सब सर प्लस में है। उन्होंने कहा कि इंदौर, भोपाल हो या ग्वालियर अंचल सभी जगह स्थिति नियंत्रण में आती जा रही है। सिंगल डिजिट में आने के बाद पॉजिटिविटी रेट निरंतर कम हो रहा है।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


bhopal, viral video of Kamal Nath, Narottam counterattacked

भोपाल। मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ के सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे एक वीडियो ने हडक़ंप मचा दिया है। इस वीडियो में वे कांग्रेस नेता को किसानों और सरकार के बीच चल रहे विवाद को लेकर आग लगाने की बात कह रहे हैं। कमलनाथ के इस बयान को लेकर कांग्रेस सफाई दे रही है और इसे एडिट वीडियो बता रही है। वहीं मप्र के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कमलनाथ पर निशाना साधते हुए बड़ा बयान दिया है।    गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने शनिवार को मीडिया से बातचीत करते हुए कमलनाथ पर पलटवार किया है। उन्होंने कहा कि कमलनाथ जी की उत्पत्ति ही आग से हुई है, इमरजेंसी में वह भागीदार रहे हैं, 84 के दंगों में लोगों के घर जलाएं। अब मध्यप्रदेश को जलाने की बात कर रहे है। आपदा में कभी तो सेवा की बात कर लीजिए कमलनाथ जी। पूर्व सीएम कमलनाथ के बयान की निंदा करते हुए कहा कि वैश्विक आपदा कोरोना के बीच आज पूरे प्रदेश की जनता कमलनाथ जी का वह चेहरा देख रही है कि वे किस तरह प्रदेश को जलाने की कोशिश कर रहे हैं। आपदा काल में जब हर व्यक्ति जन सेवा में लगा है,तब कमलनाथ जी प्रदेश में आग लगाने की बात कर रहे हैं,यह निंदनीय है। उन्होंने तंज कसते हुए कहा कि हनी ट्रैप की पेनड्राइव का उनके पास होना सोच के साथ ही शोध का भी विषय है। मुख्यमंत्री रहते हुए पता नहीं कौन-कौन से उन्होंने दस्तावेज गायब किए होंगे।   बता दे कि वायरल वीडियो के अनुसार पूर्व सीएम कमलनाथ कह रहे हैं कि यही आग लगाने का मौका है। किसानों के साथ अन्याय हुआ है। सरकार के खिलाफ जमकर चलाओ सरकार ऐसा कर रही है वैसा कर रही है। खरीदी जो करी है वह हरियाणा पंजाब से करी है। जितना सरकार के खिलाफ चला सकते हो चलाओं यही मौका है आग लगाने का।   प्रदेश में कोरोना की स्थिति नियंत्रण मेंवहीं मप्र के कोरोना की स्थिति को लेकर गृहमंत्री मिश्रा ने कहा कि मध्यप्रदेश में कोरोना निरंतर नियंत्रण में आता जा रहा है। अब प्रदेश का पॉजिटिविटी रेट 6प्रतिशत से नीचे 5.8 पर आ चुका है। उपचार के लिए पर्याप्त मात्रा में संसाधन उपलब्ध है, कहीं कोई कमी नहीं है न ऑक्सीजन की, न रेमडेसीविर इंजेक्शन की,  न आईसीयू की, ना बेड की। मध्य प्रदेश सरकार ने माकूल प्रबंध किए गए हैं अब हमारे पास ऑक्सीजन इंजेक्शन सब सर प्लस में है। उन्होंने कहा कि इंदौर, भोपाल हो या ग्वालियर अंचल सभी जगह स्थिति नियंत्रण में आती जा रही है। सिंगल डिजिट में आने के बाद पॉजिटिविटी रेट निरंतर कम हो रहा है।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


bhopal, viral video of Kamal Nath, Narottam counterattacked

भोपाल। मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ के सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे एक वीडियो ने हडक़ंप मचा दिया है। इस वीडियो में वे कांग्रेस नेता को किसानों और सरकार के बीच चल रहे विवाद को लेकर आग लगाने की बात कह रहे हैं। कमलनाथ के इस बयान को लेकर कांग्रेस सफाई दे रही है और इसे एडिट वीडियो बता रही है। वहीं मप्र के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कमलनाथ पर निशाना साधते हुए बड़ा बयान दिया है।    गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने शनिवार को मीडिया से बातचीत करते हुए कमलनाथ पर पलटवार किया है। उन्होंने कहा कि कमलनाथ जी की उत्पत्ति ही आग से हुई है, इमरजेंसी में वह भागीदार रहे हैं, 84 के दंगों में लोगों के घर जलाएं। अब मध्यप्रदेश को जलाने की बात कर रहे है। आपदा में कभी तो सेवा की बात कर लीजिए कमलनाथ जी। पूर्व सीएम कमलनाथ के बयान की निंदा करते हुए कहा कि वैश्विक आपदा कोरोना के बीच आज पूरे प्रदेश की जनता कमलनाथ जी का वह चेहरा देख रही है कि वे किस तरह प्रदेश को जलाने की कोशिश कर रहे हैं। आपदा काल में जब हर व्यक्ति जन सेवा में लगा है,तब कमलनाथ जी प्रदेश में आग लगाने की बात कर रहे हैं,यह निंदनीय है। उन्होंने तंज कसते हुए कहा कि हनी ट्रैप की पेनड्राइव का उनके पास होना सोच के साथ ही शोध का भी विषय है। मुख्यमंत्री रहते हुए पता नहीं कौन-कौन से उन्होंने दस्तावेज गायब किए होंगे।   बता दे कि वायरल वीडियो के अनुसार पूर्व सीएम कमलनाथ कह रहे हैं कि यही आग लगाने का मौका है। किसानों के साथ अन्याय हुआ है। सरकार के खिलाफ जमकर चलाओ सरकार ऐसा कर रही है वैसा कर रही है। खरीदी जो करी है वह हरियाणा पंजाब से करी है। जितना सरकार के खिलाफ चला सकते हो चलाओं यही मौका है आग लगाने का।   प्रदेश में कोरोना की स्थिति नियंत्रण मेंवहीं मप्र के कोरोना की स्थिति को लेकर गृहमंत्री मिश्रा ने कहा कि मध्यप्रदेश में कोरोना निरंतर नियंत्रण में आता जा रहा है। अब प्रदेश का पॉजिटिविटी रेट 6प्रतिशत से नीचे 5.8 पर आ चुका है। उपचार के लिए पर्याप्त मात्रा में संसाधन उपलब्ध है, कहीं कोई कमी नहीं है न ऑक्सीजन की, न रेमडेसीविर इंजेक्शन की,  न आईसीयू की, ना बेड की। मध्य प्रदेश सरकार ने माकूल प्रबंध किए गए हैं अब हमारे पास ऑक्सीजन इंजेक्शन सब सर प्लस में है। उन्होंने कहा कि इंदौर, भोपाल हो या ग्वालियर अंचल सभी जगह स्थिति नियंत्रण में आती जा रही है। सिंगल डिजिट में आने के बाद पॉजिटिविटी रेट निरंतर कम हो रहा है।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


bhopal, viral video of Kamal Nath, Narottam counterattacked

भोपाल। मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ के सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे एक वीडियो ने हडक़ंप मचा दिया है। इस वीडियो में वे कांग्रेस नेता को किसानों और सरकार के बीच चल रहे विवाद को लेकर आग लगाने की बात कह रहे हैं। कमलनाथ के इस बयान को लेकर कांग्रेस सफाई दे रही है और इसे एडिट वीडियो बता रही है। वहीं मप्र के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कमलनाथ पर निशाना साधते हुए बड़ा बयान दिया है।    गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने शनिवार को मीडिया से बातचीत करते हुए कमलनाथ पर पलटवार किया है। उन्होंने कहा कि कमलनाथ जी की उत्पत्ति ही आग से हुई है, इमरजेंसी में वह भागीदार रहे हैं, 84 के दंगों में लोगों के घर जलाएं। अब मध्यप्रदेश को जलाने की बात कर रहे है। आपदा में कभी तो सेवा की बात कर लीजिए कमलनाथ जी। पूर्व सीएम कमलनाथ के बयान की निंदा करते हुए कहा कि वैश्विक आपदा कोरोना के बीच आज पूरे प्रदेश की जनता कमलनाथ जी का वह चेहरा देख रही है कि वे किस तरह प्रदेश को जलाने की कोशिश कर रहे हैं। आपदा काल में जब हर व्यक्ति जन सेवा में लगा है,तब कमलनाथ जी प्रदेश में आग लगाने की बात कर रहे हैं,यह निंदनीय है। उन्होंने तंज कसते हुए कहा कि हनी ट्रैप की पेनड्राइव का उनके पास होना सोच के साथ ही शोध का भी विषय है। मुख्यमंत्री रहते हुए पता नहीं कौन-कौन से उन्होंने दस्तावेज गायब किए होंगे।   बता दे कि वायरल वीडियो के अनुसार पूर्व सीएम कमलनाथ कह रहे हैं कि यही आग लगाने का मौका है। किसानों के साथ अन्याय हुआ है। सरकार के खिलाफ जमकर चलाओ सरकार ऐसा कर रही है वैसा कर रही है। खरीदी जो करी है वह हरियाणा पंजाब से करी है। जितना सरकार के खिलाफ चला सकते हो चलाओं यही मौका है आग लगाने का।   प्रदेश में कोरोना की स्थिति नियंत्रण मेंवहीं मप्र के कोरोना की स्थिति को लेकर गृहमंत्री मिश्रा ने कहा कि मध्यप्रदेश में कोरोना निरंतर नियंत्रण में आता जा रहा है। अब प्रदेश का पॉजिटिविटी रेट 6प्रतिशत से नीचे 5.8 पर आ चुका है। उपचार के लिए पर्याप्त मात्रा में संसाधन उपलब्ध है, कहीं कोई कमी नहीं है न ऑक्सीजन की, न रेमडेसीविर इंजेक्शन की,  न आईसीयू की, ना बेड की। मध्य प्रदेश सरकार ने माकूल प्रबंध किए गए हैं अब हमारे पास ऑक्सीजन इंजेक्शन सब सर प्लस में है। उन्होंने कहा कि इंदौर, भोपाल हो या ग्वालियर अंचल सभी जगह स्थिति नियंत्रण में आती जा रही है। सिंगल डिजिट में आने के बाद पॉजिटिविटी रेट निरंतर कम हो रहा है।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


bhopal, viral video of Kamal Nath, Narottam counterattacked

भोपाल। मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ के सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे एक वीडियो ने हडक़ंप मचा दिया है। इस वीडियो में वे कांग्रेस नेता को किसानों और सरकार के बीच चल रहे विवाद को लेकर आग लगाने की बात कह रहे हैं। कमलनाथ के इस बयान को लेकर कांग्रेस सफाई दे रही है और इसे एडिट वीडियो बता रही है। वहीं मप्र के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कमलनाथ पर निशाना साधते हुए बड़ा बयान दिया है।    गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने शनिवार को मीडिया से बातचीत करते हुए कमलनाथ पर पलटवार किया है। उन्होंने कहा कि कमलनाथ जी की उत्पत्ति ही आग से हुई है, इमरजेंसी में वह भागीदार रहे हैं, 84 के दंगों में लोगों के घर जलाएं। अब मध्यप्रदेश को जलाने की बात कर रहे है। आपदा में कभी तो सेवा की बात कर लीजिए कमलनाथ जी। पूर्व सीएम कमलनाथ के बयान की निंदा करते हुए कहा कि वैश्विक आपदा कोरोना के बीच आज पूरे प्रदेश की जनता कमलनाथ जी का वह चेहरा देख रही है कि वे किस तरह प्रदेश को जलाने की कोशिश कर रहे हैं। आपदा काल में जब हर व्यक्ति जन सेवा में लगा है,तब कमलनाथ जी प्रदेश में आग लगाने की बात कर रहे हैं,यह निंदनीय है। उन्होंने तंज कसते हुए कहा कि हनी ट्रैप की पेनड्राइव का उनके पास होना सोच के साथ ही शोध का भी विषय है। मुख्यमंत्री रहते हुए पता नहीं कौन-कौन से उन्होंने दस्तावेज गायब किए होंगे।   बता दे कि वायरल वीडियो के अनुसार पूर्व सीएम कमलनाथ कह रहे हैं कि यही आग लगाने का मौका है। किसानों के साथ अन्याय हुआ है। सरकार के खिलाफ जमकर चलाओ सरकार ऐसा कर रही है वैसा कर रही है। खरीदी जो करी है वह हरियाणा पंजाब से करी है। जितना सरकार के खिलाफ चला सकते हो चलाओं यही मौका है आग लगाने का।   प्रदेश में कोरोना की स्थिति नियंत्रण मेंवहीं मप्र के कोरोना की स्थिति को लेकर गृहमंत्री मिश्रा ने कहा कि मध्यप्रदेश में कोरोना निरंतर नियंत्रण में आता जा रहा है। अब प्रदेश का पॉजिटिविटी रेट 6प्रतिशत से नीचे 5.8 पर आ चुका है। उपचार के लिए पर्याप्त मात्रा में संसाधन उपलब्ध है, कहीं कोई कमी नहीं है न ऑक्सीजन की, न रेमडेसीविर इंजेक्शन की,  न आईसीयू की, ना बेड की। मध्य प्रदेश सरकार ने माकूल प्रबंध किए गए हैं अब हमारे पास ऑक्सीजन इंजेक्शन सब सर प्लस में है। उन्होंने कहा कि इंदौर, भोपाल हो या ग्वालियर अंचल सभी जगह स्थिति नियंत्रण में आती जा रही है। सिंगल डिजिट में आने के बाद पॉजिटिविटी रेट निरंतर कम हो रहा है।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


bhopal, viral video of Kamal Nath, Narottam counterattacked

भोपाल। मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ के सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे एक वीडियो ने हडक़ंप मचा दिया है। इस वीडियो में वे कांग्रेस नेता को किसानों और सरकार के बीच चल रहे विवाद को लेकर आग लगाने की बात कह रहे हैं। कमलनाथ के इस बयान को लेकर कांग्रेस सफाई दे रही है और इसे एडिट वीडियो बता रही है। वहीं मप्र के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कमलनाथ पर निशाना साधते हुए बड़ा बयान दिया है।    गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने शनिवार को मीडिया से बातचीत करते हुए कमलनाथ पर पलटवार किया है। उन्होंने कहा कि कमलनाथ जी की उत्पत्ति ही आग से हुई है, इमरजेंसी में वह भागीदार रहे हैं, 84 के दंगों में लोगों के घर जलाएं। अब मध्यप्रदेश को जलाने की बात कर रहे है। आपदा में कभी तो सेवा की बात कर लीजिए कमलनाथ जी। पूर्व सीएम कमलनाथ के बयान की निंदा करते हुए कहा कि वैश्विक आपदा कोरोना के बीच आज पूरे प्रदेश की जनता कमलनाथ जी का वह चेहरा देख रही है कि वे किस तरह प्रदेश को जलाने की कोशिश कर रहे हैं। आपदा काल में जब हर व्यक्ति जन सेवा में लगा है,तब कमलनाथ जी प्रदेश में आग लगाने की बात कर रहे हैं,यह निंदनीय है। उन्होंने तंज कसते हुए कहा कि हनी ट्रैप की पेनड्राइव का उनके पास होना सोच के साथ ही शोध का भी विषय है। मुख्यमंत्री रहते हुए पता नहीं कौन-कौन से उन्होंने दस्तावेज गायब किए होंगे।   बता दे कि वायरल वीडियो के अनुसार पूर्व सीएम कमलनाथ कह रहे हैं कि यही आग लगाने का मौका है। किसानों के साथ अन्याय हुआ है। सरकार के खिलाफ जमकर चलाओ सरकार ऐसा कर रही है वैसा कर रही है। खरीदी जो करी है वह हरियाणा पंजाब से करी है। जितना सरकार के खिलाफ चला सकते हो चलाओं यही मौका है आग लगाने का।   प्रदेश में कोरोना की स्थिति नियंत्रण मेंवहीं मप्र के कोरोना की स्थिति को लेकर गृहमंत्री मिश्रा ने कहा कि मध्यप्रदेश में कोरोना निरंतर नियंत्रण में आता जा रहा है। अब प्रदेश का पॉजिटिविटी रेट 6प्रतिशत से नीचे 5.8 पर आ चुका है। उपचार के लिए पर्याप्त मात्रा में संसाधन उपलब्ध है, कहीं कोई कमी नहीं है न ऑक्सीजन की, न रेमडेसीविर इंजेक्शन की,  न आईसीयू की, ना बेड की। मध्य प्रदेश सरकार ने माकूल प्रबंध किए गए हैं अब हमारे पास ऑक्सीजन इंजेक्शन सब सर प्लस में है। उन्होंने कहा कि इंदौर, भोपाल हो या ग्वालियर अंचल सभी जगह स्थिति नियंत्रण में आती जा रही है। सिंगल डिजिट में आने के बाद पॉजिटिविटी रेट निरंतर कम हो रहा है।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


bhopal, viral video of Kamal Nath, Narottam counterattacked

भोपाल। मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ के सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे एक वीडियो ने हडक़ंप मचा दिया है। इस वीडियो में वे कांग्रेस नेता को किसानों और सरकार के बीच चल रहे विवाद को लेकर आग लगाने की बात कह रहे हैं। कमलनाथ के इस बयान को लेकर कांग्रेस सफाई दे रही है और इसे एडिट वीडियो बता रही है। वहीं मप्र के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कमलनाथ पर निशाना साधते हुए बड़ा बयान दिया है।    गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने शनिवार को मीडिया से बातचीत करते हुए कमलनाथ पर पलटवार किया है। उन्होंने कहा कि कमलनाथ जी की उत्पत्ति ही आग से हुई है, इमरजेंसी में वह भागीदार रहे हैं, 84 के दंगों में लोगों के घर जलाएं। अब मध्यप्रदेश को जलाने की बात कर रहे है। आपदा में कभी तो सेवा की बात कर लीजिए कमलनाथ जी। पूर्व सीएम कमलनाथ के बयान की निंदा करते हुए कहा कि वैश्विक आपदा कोरोना के बीच आज पूरे प्रदेश की जनता कमलनाथ जी का वह चेहरा देख रही है कि वे किस तरह प्रदेश को जलाने की कोशिश कर रहे हैं। आपदा काल में जब हर व्यक्ति जन सेवा में लगा है,तब कमलनाथ जी प्रदेश में आग लगाने की बात कर रहे हैं,यह निंदनीय है। उन्होंने तंज कसते हुए कहा कि हनी ट्रैप की पेनड्राइव का उनके पास होना सोच के साथ ही शोध का भी विषय है। मुख्यमंत्री रहते हुए पता नहीं कौन-कौन से उन्होंने दस्तावेज गायब किए होंगे।   बता दे कि वायरल वीडियो के अनुसार पूर्व सीएम कमलनाथ कह रहे हैं कि यही आग लगाने का मौका है। किसानों के साथ अन्याय हुआ है। सरकार के खिलाफ जमकर चलाओ सरकार ऐसा कर रही है वैसा कर रही है। खरीदी जो करी है वह हरियाणा पंजाब से करी है। जितना सरकार के खिलाफ चला सकते हो चलाओं यही मौका है आग लगाने का।   प्रदेश में कोरोना की स्थिति नियंत्रण मेंवहीं मप्र के कोरोना की स्थिति को लेकर गृहमंत्री मिश्रा ने कहा कि मध्यप्रदेश में कोरोना निरंतर नियंत्रण में आता जा रहा है। अब प्रदेश का पॉजिटिविटी रेट 6प्रतिशत से नीचे 5.8 पर आ चुका है। उपचार के लिए पर्याप्त मात्रा में संसाधन उपलब्ध है, कहीं कोई कमी नहीं है न ऑक्सीजन की, न रेमडेसीविर इंजेक्शन की,  न आईसीयू की, ना बेड की। मध्य प्रदेश सरकार ने माकूल प्रबंध किए गए हैं अब हमारे पास ऑक्सीजन इंजेक्शन सब सर प्लस में है। उन्होंने कहा कि इंदौर, भोपाल हो या ग्वालियर अंचल सभी जगह स्थिति नियंत्रण में आती जा रही है। सिंगल डिजिट में आने के बाद पॉजिटिविटी रेट निरंतर कम हो रहा है।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2021


bhopal, viral video of Kamal Nath, Narottam counterattacked

भोपाल। मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ के सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे एक वीडियो ने हडक़ंप मचा दिया है। इस वीडियो में वे कांग्रेस नेता को किसानों और सरकार के बीच चल रहे विवाद को लेकर आग लगाने की बात कह रहे हैं। कमलनाथ के इस बयान को लेकर कांग्रेस सफाई दे रही है और इसे एडिट वीडियो बता रही है। वहीं मप्र के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कमलनाथ पर निशाना साधते हुए बड़ा बयान दिया है।    गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने शनिवार को मीडिया से बातचीत करते हुए कमलनाथ पर पलटवार किया है। उन्होंने कहा कि कमलनाथ जी की उत्पत्ति ही आग से हुई है, इमरजेंसी में वह भागीदार रहे हैं, 84 के दंगों में लोगों के घर जलाएं। अब मध्यप्रदेश को जलाने की बात कर रहे है। आपदा में कभी तो सेवा की बात कर लीजिए कमलनाथ जी। पूर्व सीएम कमलनाथ के बयान की निंदा करते हुए कहा कि वैश्विक आपदा कोरोना के बीच आज पूरे प्रदेश की जनता कमलनाथ जी का वह चेहरा देख रही है कि वे किस तरह प्रदेश को जलाने की कोशिश कर रहे हैं। आपदा काल में जब हर व्यक्ति जन सेवा में लगा है,तब कमलनाथ जी प्रदेश में आग लगाने की बात कर रहे हैं,यह निंदनीय है। उन्होंने तंज कसते हुए कहा कि हनी ट्रैप की पेनड्राइव का उनके पास होना सोच के साथ ही शोध का भी विषय है। मुख्यमंत्री रहते हुए पता नहीं कौन-कौन से उन्होंने दस्तावेज गायब किए होंगे।   बता दे कि वायरल वीडियो के अनुसार पूर्व सीएम कमलनाथ कह रहे हैं कि यही आग लगाने का मौका है। किसानों के साथ अन्याय हुआ है। सरकार के खिलाफ जमकर चलाओ सरकार ऐसा कर रही है वैसा कर रही है। खरीदी जो करी है वह हरियाणा पंजाब से करी है। जितना सरकार के खिलाफ चला सकते हो चलाओं यही मौका है आग लगाने का।   प्रदेश में कोरोना की स्थिति नियंत्रण मेंवहीं मप्र के कोरोना की स्थिति को लेकर गृहमंत्री मिश्रा ने कहा कि मध्यप्रदेश में कोरो