विशेष


bhopal,Rameshwar Sharma, appointed , current Speaker , MP Assembly

  भोपाल। मध्यप्रदेश विधानसभा के सामयिक अध्यक्ष (प्रोटेम स्पीकर) के पद पर राज्यपाल आनंदीबेन पटेल द्वारा भाजपा के वरिष्ठ विधायक रामेश्वर शर्मा को नियुक्त किया गया है। इस संबंध में शनिवार को आदेश जारी कर दिये गये हैं।    बता दें कि अध्यक्ष जगदीश देवड़ा को शिवराज सरकार में कैबिनेट मंत्री बनाया गया है। दो दिन पहले भोपाल में हुए मंत्रिमंडल विस्तार के दौरान उन्होंने सामयिक अध्यक्ष के पद से इस्तीफा दे दिया था। इसलिए विधानसभा का सामयिक अध्यक्ष का पद खाली हो गया था। आगामी 20 जुलाई से विधानसभा का मानसून सत्र शुरू होने वाला है, जिसमें सदन की पांच बैठकें होगी। इस दौरान विधानसभा अध्यक्ष और उपाध्यक्ष का भी चयन होगा, लेकिन इसके लिए विधानसभा में सामयिक अध्यक्ष की नियुक्ति जरूरी थी। इसी को देखते हुए कार्यवाहक राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने अपने अधिकारों का प्रयोग करते हुए रामेश्वर शर्मा को विधानसभा अध्यक्ष का निर्वाचन होने तक इस पद के दायित्वों के निर्वहन के लिए सामयिक अध्यक्ष नियुक्त किया गया है।  

Dakhal News

Dakhal News 4 July 2020


bhopal,MP board ,10th result, declared, girls won again

भोपाल। मध्य प्रदेश के माध्यमिक शिक्षा मंडल (एमपी बोर्ड) द्वारा शनिवार को हाईस्कूल सर्टिफिकेट परीक्षा (कक्षा 10वीं) का परिणाम आधिकारिक वेबसाइट mpbse.nic.in और ऐप रिजल्ट जारी कर दिया है। इस वर्ष हाईस्कूल के नियमित विद्यार्थियों का परीक्षा परिणाम 62.84 प्रतिशत रहा। इसमें छात्राओं ने एक बार फिर बाजी मार दी है। उन्होंने लड़कों को पीछे छोड़ दिया है। छात्रों का पास होने का प्रतिशत 60.9 फीसदी रहा, जबकि नियमित छात्राएं 65.87 परीक्षा में सफल हुईं। दसवीं में 15 विद्यार्थियों ने सौ फीसदी अंक हासिल कर पहला स्थान प्राप्त किया है। वहीं, स्वाध्यायी परीक्षार्थियों का परिणाम 16.95 फीसदा रहा है।   उल्लेखनीय है कि पिछले दो साल से एमपी बोर्ड द्वारा कक्षा 10वीं और 12वीं का परीक्षा परिणाम एकसाथ 15 मई को घोषित किया जाता था, लेकिन इस बार कोरोना के चलते परिणाम घोषित करने में देरी हुई और 10वीं का नतीजा पहले घोषित किया गया है। विद्यार्थी अपना परीक्षा परिणाम ऑनलाइन देख सकते हैं। इसके लिए एमपी बोर्ड ने 4 सरकारी वेबसाइट और मोबाइल फोन पर दो ऐप में यह रिजल्ट अपलोड किया है। एमपी बोर्ड द्वारा जारी दसवीं का परिणाम बोर्ड की आधिकारिक वेबसाइट्स mpbse.nic.in  और mpresults.nic.in के माध्यम से रिजल्ट चेक कर सकते हैं।   15 विद्यार्थियों ने 300 में से 300 यानी सौ फीसदी अंक हासिल कर पहला स्थान प्राप्त किया है। इनमें भिंड के अभिनव शर्मा, गुना के लक्षदीप धाकड़, गुना की प्रियांशी रघुवंशी, गुना के पवन भार्गव, पन्ना के चतुर कुमार त्रिपाठी, मंदसौर के हरिओम पाटीदार, उज्जैन की राजनंदिनी सक्सेना, उज्जैन के नागदा के सिद्धार्थ सिंह शेखावत, पीथमपुर धार के हर्ष प्रताप सिंह, महू इंदौर की कविता लोधी, विदिशा की मुस्कान मालवीय, गंजबासौदा विदिशा की देवांशी रघुवंशी, भोपाल की कर्णिका मिश्रा, रायसेन के प्रशांत विश्वकर्मा और रायसेन की वेदिका विश्वकर्मा शामिल हैं।   आधिकारिक जानकारी के अनुसार, कोरोना संक्रमण के चलते जिन विषयों की परीक्षाएं संपन्न हुई थीं उन्हीं विषयों के आधार पर परीक्षाफल तैयार किया गया है। आठ लाख 91 हजार 866 नियमित परीक्षार्थियों के परीक्षा परिणाम घोषित किए गए हैं। इनमें 42 हजार 390 परीक्षार्थी प्रथम श्रेणी में, दो लाख 15 हजार 162 परीक्षार्थी द्वितीय श्रेणी एवं दो हजार 922 परीक्षार्थी तृतीय श्रेणी में उत्तीर्ण हुए। इस प्रकार कुल पांच लाख 60 हजार 474 परीक्षार्थी परीक्षा में सफल हुए हैं, जिनका परीक्षाफल 62.84 फीसदी रहा। वहीं, एक लाख आठ हजार 448 परीक्षार्थियों ने पूरक की पात्रता प्राप्त की है। वहीं, 1444 विद्यार्थियों के अंकों की पुष्टि नहीं हो पाई है, जिसके चलते इनका परिणाम बाद में घोषित किया जाएगा। इसी तरह दो लाख तीन 823 स्वाध्यायी परीक्षार्थियों का परिणाम घोषित किया गया है। इनमें 18 हजार  194 परीक्षार्थी  प्रथम श्रेणी में, 3483 परीक्षार्थी द्वितीय श्रेणी में, 12885 परीक्षार्थी तृतीय श्रेणी में उत्तीर्ण हुए। इस प्रकार कुल 34563 परीक्षार्थी परीक्षा में सफल हुये और परीक्षा परिणाम 16.95 प्रतिशत रहा, जबकि 29083 स्वाध्यायी परीक्षार्थियों ने पूरक की पात्रता प्राप्त की। वहीं, 235 परीक्षार्थियों के परीक्षाफल अंकों की पुष्टि नहीं होने के कारण उनाक परिणाम बाद में घोषित किया जाएगा।

Dakhal News

Dakhal News 4 July 2020


bhopal, minister

भोपाल। मध्य प्रदेश में शिवराज मंत्रिमंडल का विस्तार होने के बाद अब विभागों के बंटवारे को लेकर खींचतान शुरू हो गई है। भाजपा संगठन ने मंत्री पद के लिए सिंधिया खेमे से चेहरों को चुनाव तो कर लिया, लेकिन अब सीएम शिवराज के सामने विभागों के बंटवारे की चुनौती है। यही कारण है कि मंत्रिमंडल विस्तार के दो दिन बीत जाने के बाद भी अब तक विभागों का बंटवारा नहीं हो पाया है। हालांकि संभावना जताई जा रही है कि एक दो दिन में स्थिति स्पष्ट हो जाएगी।   विभागों के बंटवारे को लेकर सीएम शिवराज सिंह चौहान और सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया के बीच शुक्रवार देर शाम को इसको लेकर मशक्कत हुई। भाजपा को समर्थन देकर सरकार बनाने में अहम भूमिका निभाने वाले सिंधिया भी चाहेंगे कि उनके खेमे से मंत्री बने लोगों को प्रमुख विभाग दिए जाए। क्योंकि पिछली कमलनाथ सरकार में सिंधिया खेमे के पास स्वास्थ्य, राजस्व, महिला एवं बाल विकास, स्कूल शिक्षा, परिवहन, श्रम और खाद्य विभाग थे। उम्मीद है कि शिवराज सरकार में भी इसमें से कुछ विभाग सिंधिया खेमे के पास ही रह सकते हैं।   वहीं भाजपा खेमे के मंत्री भी प्रमुख विभाग मिलने की उम्मीद लगाए बैठे हैं। ऐसे समय में निर्णय लेने से पहले अब सीएम शिवराज आज शनिवार को इस मामले में संगठन के साथ बात कर सकते हैं। सिंधिया समर्थक 7 कैबिनेट और चार राज्यमंत्रियों को काम देना है। इसके अलावा कांग्रेस से भाजपा में आने के बाद मंत्री बनाए गए बिसाहूलाल सिंह, एंदल सिंह कंसाना और हरदीप डंग भी कैबिनेट मंत्री बनाए गए हैं। लिहाजा, मुख्यमंत्री के सामने यह मुश्किल है कि कामकाज कैसे बांटें। नए सिरे से होमवर्क होने की संभावना है, ऐसे में मौजूदा 5 कैबिनेट मंत्रियों नरोत्तम मिश्रा, तुलसी सिलावट, गोविंद सिंह राजपूत, कमल पटेल और मीना सिंह में से कुछ के कामकाज में बदलाव हो सकता है। अब देखना यह है कि सीएम शिवराज इस मुश्किल घड़ी में दो खेमों से बनी कैबिनेट में कैसे सामंजस्य बैठाते है।

Dakhal News

Dakhal News 4 July 2020


bhopal,Shivraj ,took meeting ,after cabinet expansion

भोपाल। मध्यप्रदेश के बहुप्रतीक्षित मंत्रिमंडल का गुरुवार को विस्तार हुआ। राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने राजभवन में आयोजित सादा समारोह में 28 मंत्रियों को पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलाई, इनमें 20 कैबिनेट मंत्री और आठ राज्यमंत्री शामिल हैं। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मंत्रिमंडल विस्तार के तत्काल बाद मंत्रियों की पहली बैठक ली, जिसमें उन्होंने सभी को औपचारिक तौर पर बधाई देते हुए उनकी प्राथमिकताओं की जानकारी दी। सीएम शिवराज ने नए मंत्रियों को बधाई देने के बाद एक श्लोक सुनाते हुए कहा कि यहां से जो काम प्रदेश की भलाई के लिए हों, वे निर्विघ्न रूप से पूरे करने के प्रयास होना चाहिए। सभी को परिश्रम की पराकाष्ठा करना होगी। एक भी क्षण व्यर्थ न हो, क्योंकि अब जो क्षण हैं, वो जनता के हैं। सभी मंत्री कोई भी स्वागत न कराएं। कोरोना काल चल रहा है, इसलिए स्वागत न कराएं और भीड़ भी एकत्रित नहीं करें।   मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और राज्यसभा के नवनिर्वाचित सांसद ज्योतिरादित्य सिंदिया ने सभी नये मंत्रियों को शुभकामनाएँ दी हैं।मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट किया है कि - 'आज मंत्री पद की शपथ लेने वाले मेरे सभी साथियों को हार्दिक बधाई। हम सब मध्यप्रदेश की प्रगति, विकास एवं जनकल्याण के लक्ष्यों की प्राप्ति के लिए साथ मिलकर कार्य करेंगे। मुझे विश्वास है कि प्रदेश के नवनिर्माण में आप सबका भरपूर सहयोग और योगदान मिलेगा।'   वहीं, पूर्व केन्द्रीय मंत्री व राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने ट्वीट किया है कि - ‘मंत्रिमंडल में शामिल हुए सभी नए मंत्रियों को बधाई। मुझे विश्वास है कि प्रदेश की तरक्की और विकास के लिए आप सब प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी, गृह मंत्री अमित शाह जी, राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा जी के मार्गदर्शन तथा मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के साथ कंधे से कंधा मिला कर कार्य करेंगे। आप सभी को शुभकामनाएं।’

Dakhal News

Dakhal News 2 July 2020


bhopal,After cabinet expansion, Scindia, Kamal Nath Diggi called Tanj

भोपाल। मप्र में बहुप्रतिक्षित शिवराज मंत्रिमंडल का आखिरकार गुरुवार को विस्तार हो गया। राजभवन में आयोजित एक साधारण कार्यक्रम में राज्यपाल आनंदीबेन पटेन ने मंत्रियों को शपथ दिलाई। कुल 28 मंत्रियों ने शपथ ली। जिसमें सिंधिया खेमे से 9 और कांग्रेस से भाजपा में आए 3 मंत्री बने। मंत्रिमंडल विस्तार के बाद मीडिया से बातचीत करते हुए सिंधिया ने कमलनाथ और दिग्विजय सिंह को संदेश देते हुए कहा है कि टाइगर अभी जिंदा है।   राजभवन के बाहर मीडिया से बात करते हुए राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि यह मंत्रिमंडल विस्तार नहीं बल्कि जिम्मेदारी दी गई है। उपचुनाव में जीत का दावा करते हुए कहा कि मध्य प्रदेश में 24 सीटों पर होने वाले उपचुनाव में भाजपा की जीत होगी। उपचुनाव भाजपा जीतेगी सभी जनसेवक की जीत होगी, किश्तों की सरकार जो 15 महीने चली उसको मुंहतोड़ जवाब मिलेगा। कमलनाथ और दिग्विजय सिंह को तंज कसते हुए कहा कि टाइगर अभी जिंदा है।   कांग्रेस द्वारा कोरोना काल में ग्वालियर-चंबल अंचल में सिंधिया की गैरमौजूदगी को लेकर उठाए जा रहे सवाल पर जवाब देते हुए उन्होंने कहा कि कोरोना काल के दौरान मैं भले ही ग्वालियर-चंबल अंचल में नहीं था, लेकिन सभी कार्यकर्ताओं के संपर्क में था। सिंधिया फाउंडेशन के द्वारा लोगों को भोजन उपलब्ध करवाया गया है। इसी के विदेश में फंसे कई लोगों को हम वापस देश लेकर भी आए हैं।   बताते चले कि मंत्रिमंडल विस्तार से पहले ज्योतिरादित्य सिंधिया ने ट्वीट भी किया था। जिसमें उन्होंने  लिखा था ‘अन्याय के खिलाफ छेड़ा गया संघर्ष ही धर्म है। दो दिवसीय दौरे पर भोपाल पहुंच रहा हूं। प्रदेश सरकार के मंत्रिमंडल विस्तार कार्यक्रम में उपस्थित होने के बाद, कार्यकर्ताओं से मुलाकात करूंगा।

Dakhal News

Dakhal News 2 July 2020


bhopal, 28 ministers ,sworn,much-awaited expansion, Shivraj

भोपाल। मध्यप्रदेश में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के बहुप्रतीक्षित मंत्रिमंडल का विस्तार गुरुवार को अंतत: हो ही गया। राजभवन में आयोजित एक सादा समारोह में 28 मंत्रियों को राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलाई। इनमें 20 को कैबिनेट और आठ को राज्यमंत्री की शपथ दिलाई गई। इस दौरान मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा, संगठन महामंत्री सुहास भगत, राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय, गृह मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा, प्रदेश भाजपा विनय सहस्त्रबुद्धे समेत सभी बड़े नेता और अधिकारी मौजूद रहे।   कार्यक्रम से पहले मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान राजभवन पहुंचे और राज्यपाल आनंदीबेन पटेल को 20 कैबिनेट और 8 राज्यमंत्रियों की सूची सौंपी। इसके बाद सुबह 11 बजे राजभवन में शपथ समारोह शुरू हुआ, जिसमें राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने नये मंत्रियों को शपथ दिलाई। इनमें गोपाल भार्गव, विजय शाह, जगदीश देवड़ा, बिसाहू लाल सिंह, यशोधरा राजे सिंधिया, भूपेंद्र सिंह, एदल सिंह कंषाना, बृजेंद्र प्रताप सिंह, विश्वास सारंग, इमरती देवी, प्रभुराम चौधरी, महेंद्र सिंह सिसौदिया (संजू भैया), प्रद्युमन सिंह तोमर, प्रेम सिंह पटेल, ओमप्रकाश सकलेचा, उषा ठाकुर, अरविंद भदौरिया, डॉ. मोहन यादव, हरदीप सिंह डंग, राजवर्धन सिंह प्रेमसिंह दत्तीगांव को कैबिनट मंत्री के रूप में पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलाई गई। वहीं, भरत सिंह कुशवाह, इंदर सिंह परमार, रामलेखावन पटेल, राम किशोर कांवरे, बृजेंद्र सिंह यादव, गिर्राज दंडौतिया, सुरेश धाकड़ (राठखेड़ा) और ओपीएस भदौरिया को राज्यमंत्री की शपथ दिलाई गई।   गौतरबल है कि कांग्रेस की कमलनाथ सरकार गिरने के बाद मार्च में भाजपा ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व में चौथी बार सरकार बनाई थी। शिवराज ने 23 मार्च को मुख्यमंत्री पद की शपथ लेकर रिकार्ड 29 दिन अकेले सरकार चलाई और उसके बाद 21 अप्रैल को पांच मंत्रियों को शपद दिलाकर अपने मिनी कैबिनेट का गठन किया, तभी से मंत्रिमंडल के विस्तार की अटकलें शुरू हो गई थी, जिन पर गुरुवार को विराम लग गया है। शिवराज मंत्रिमंडल के बहुप्रतीक्षित मंत्रिमंडल का विस्तार अब हो गया है।

Dakhal News

Dakhal News 2 July 2020


bhopal,Acting Governor, Anandiben ,take oath today, cabinet expansion

भोपाल। मध्यप्रदेश की कार्यवाहक राज्यपाल आनंदीबेन पटेल बुधवार शाम को साढ़े चार बजे राजभवन पहुंचकर शपथ ग्रहण करेंगी। प्रभारी राज्यपाल को लेने के लिए प्रदेश शासन का एक विशेष विमान भोपाल से लखनऊ भेजा गया है। वहीं, मंत्रिमंडल विस्तार पर अब तक असमंजस बरकरार है। संभावना जताई जा रही है कि शिवराज कैबिनेट का विस्तार गुरुवार को हो सकता है।   बता दें कि राज्यपाल लालजी टण्डन के अस्वस्थ होने के चलते राष्ट्रपति द्वारा उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल को मध्यप्रदेश का कार्यवाहन राज्यपाल बनाया गया है। वे बुधवार को दोपहर करीब साढ़े तीन बजे लखनऊ से विशेष विमान द्वारा भोपाल पहुंचेंगी। भोपाल के राजा भोज विमानतल पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान उनकी अगवानी करेंगे। यहां राजभवन में सांदीपनि सभागार में साढ़े चार बजे उनका शपथ ग्रहण समारोह होगा, जिसमें प्रदेश के कार्यवाहक राज्यपाल की शपथ ग्रहण करेंगी। बताया गया है कि वे रात्रि विश्राम भी राजभवन में करेंगी, क्योंकि गुरुवार को मंत्रिमंडल का शपथ ग्रहण होने की संभावना है।   इधर, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान स्वयं कह चुके हैं कि मंत्रिमंडल का विस्तार बुधवार के बाद होगा। राज्य सरकार ने मंत्रिमंडल विस्तार की सभी तैयारियां पूरी कर ली हैं, लेकिन नामों को लेकर अभी उलझन बरकरार है। इसीलिए लगातार मंत्रिमंडल विस्तार टलता जा रहा है। संभावना है कि बुधवार को नामों को लेकर सहमति बन जाएगी और गुरुवार को नये मंत्रियों को शपथ दिलाई जा सकती है।

Dakhal News

Dakhal News 1 July 2020


bhopal,CM Shivraj, big statement , cabinet expansion

भोपाल। मध्य प्रदेश में मंत्रिमंडल विस्तार को लेकर मचा घमासान थमने का नाम नहीं ले रहा है। सिंधिया समर्थक चेहरों और पार्टी के वरिष्ठ विधायकों को मंत्रिमंडल में शामिल करने को लेकर पार्टी में मचा घमासान अब और तेज हो गया है। इस बीच मुख्यमंत्री शिवराज चौहान का बड़ा बयान आया है। उन्होंने कहा है, आज राज्यपाल शपथ लेंगे, कल गुरुवार को मंत्रिमंडल का विस्तार होगा।   मंत्रिमंडल में शामिल होने वाले नामों की सूची पर आलाकमान के मुहर लगाने के बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह का यह बड़ा बयान आया है। कील कोरोना अभियान का शुभारंभ करने के बाद मंत्रिमंडल विस्तार पर हुए महामंथन को लेकर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है, "मंथन से अमृत निकलता है और विष को शिव पी जाते है। आज राज्यपाल शपथ लेंगे, कल मंत्रिमंडल शपथ लेगा।"   सीएम के इस बयान के बाद मध्य प्रदेश में गुरुवार को मंत्रिमंडल का विस्तार होना तय हो गया है। भाजपा अध्यक्ष जे पी नड्डा ने मंत्रिमंडल के नामों को हरी झंडी दे दी है। प्रभारी विनय सहस्त्रबुधे नामों की सूची लेकर बुधवार शाम भोपाल आ रहे है। जिसके बाद शपथ अब कल होना तय है। ज्योतिरादित्य सिंधिया भी शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होने भोपाल पहुंचेंगे।

Dakhal News

Dakhal News 1 July 2020


bhopal, Narottam,  Tulsi , can be,  made deputy CM , Shivraj cabinet

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान दो दिन के दिल्ली प्रवास के बाद मंगलवार को सुबह भोपाल लौटे, लेकिन अभी तक यह नहीं हो पाया है कि वे अपने मंत्रिमंडल का विस्तार कब करेंगे। इसी बीच अटकलें शुरू हो गई हैं कि गृह एवं स्वास्थ्य मंत्री नरोत्तम मिश्रा और जल संसाधन मंत्री तुलसीराम सिलावट में से किसी एक को उप मुख्यमंत्री बनाया जा सकता है। इनमें ज्यादा संभावना ज्योतिरादित्य सिंधिया समर्थक तुलसीराम सिलावट की है।   दरअसल, कमलनाथ सरकार के दौरान ज्योतिरादित्य सिंधिया के सामने कांग्रेस नेतृत्व द्वारा उप मुख्यमंत्री बनने का प्रस्ताव रखा गया था, लेकिन उन्होंने उस प्रस्ताव का स्वीकार नहीं किया और अपने समर्थक तुलसीराम सिलावट को उप मुख्यमंत्री बनाने के लिए कहा था। बाद में सिंधिया का कांग्रेस से दूर होते चले गए और अंतत: भाजपा में शामिल हो गए। उनके साथ उनके समर्थक कांग्रेस के 22 विधायकों ने भी अपनी विधानसभा की सदस्यता से इस्तीफा देकर भाजपा की सदस्यता ले ली थी, जिसके चलते कमलनाथ की सरकार गिर गई थी।    इसके बाद शिवराज सिंह चौहान ने मुख्यमंत्री पद की शपथ लेकर रिकार्ड 29 दिन अकेले सरकार चलाई और फिर पांच मंत्रियों को सरकार में शामिल कर मिनी कैबिनेट का गठन कर लिया। तभी मंत्रिमंडल विस्तार की कवायद चल रही है, लेकिन अब तक यह विस्तार नहीं हो पाया है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान मंत्रिमंडल गठन को लेकर केन्द्रीय नेतृत्व से मिलने के लिए दिल्ली गए थे, जहां सोमवार सुबह मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान राज्यसभा सदस्य ज्योतिरादित्य सिंधिया से मिलने उनके निवास पहुंचे थे। यहां दोनों के बीच लगभग एक घंटे तक चर्चा हुई। बदले राजनीतिक हालात के कारण सिंधिया का भोपाल दौरा रद्द हो गया। शिवराज मंगलवार को सुबह भोपाल आ गए, लेकिन अभी तक यह साफ नहीं हो पाया है कि कैबिनट गठन को लेकर दिल्ली में क्या निर्णय हुआ। अब अटकलें लग रही हैं कि सिंधिया खेमे से तुलसी सिलावट और भाजपा से नरोत्तम मिश्रा को उप मुख्यमंत्री बनाया जा सकता है। 

Dakhal News

Dakhal News 30 June 2020


bhopal,Gopal Bhargava, big statement, spills pain ,amid speculation ,cabinet

भोपाल। मध्य प्रदेश में शिवराज कैबिनेट के विस्तार को लेकर उठा पटक जारी है। बताया जा रहा है कि एक जुलाई को मंत्रिमंडल विस्तार हो सकता है। ऐसे संकेत मिल रहे हैं कि इस बार शीर्ष नेतृत्व सिंधिया समर्थक चेहरों के साथ युवाओं को मंत्रिमंडल में मौका देना चाहता है। अगर ऐसा होता है तो भाजपा के कई वरिष्ठ विधायक, मंत्री पद से वंछित रह जाऐंगे। ऐसे हालात में पार्टी में विरोध के स्वर तेज हो सकते हैं। इन अटकलों के बीच आठ बार से विधायक रहे भाजपा के वरिष्ठ नेता और पूर्व नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव का बड़ा बयान सामने आया है। गोपाल भार्गव के बयान के बाद सियासी गलियारों में हडक़ंप मच गया है। खासतौर से भाजपा में इसका खास असर देखने को मिल रहा है।   दरअसल कैबिनेट विस्तार की अटकलों के बीच भाजपा की पिछली तीन सरकारों में मंत्री रह चुके और आठ बार के विधायक गोपाल भार्गव ने मंगलवार को एक बयान देकर सभी को चौंका दिया है। उन्होंने कैबिनेट विस्तार को लेकर कहा है कि भाजपा भी वही गलती कर रही है जो कांग्रेस ने की थी। पार्टी को वरिष्ठ नेताओं का सहयोग लेना चाहिए। उन्होंने यह भी कहा कि केन्द्र के फार्मूले को प्रदेश में लागू नहीं करना चाहिए। बताते चले कि जिन संभावित नामों को मंत्रिमंडल से बाहर किया जाना है, उनमें से एक नाम गोपाल भार्गव का भी है। उनके इस बयान को उन्हें मंत्रिमंडल से बाहर किए जाने से जोडक़र देखा जा रहा है। हालांकि पार्टी भार्गव को मनाने के लिए उन्हें विधानसभा अध्यक्ष का पद दे सकती है।    बताते चले कि अगर प्रदेश के मंत्रिमंडल विस्तार में केंद्रीय नेतृत्व का फॉर्मूला चलता है तो गोपाल भार्गव, विजय शाह, सुरेंद्र पटवा, रामपाल सिंह, राजेंद्र शुक्ला, प्रेम सिंह पटेल, पारस जैन, नागेंद्र सिंह, करण सिंह वर्मा, जगदीश देवड़ा, गौरीशंकर बिसेन, अजय विश्नोई, भूपेंद्र सिंह का मंत्री बनना मुश्किल नजर आ रहा है। यह सभी चेहरे शिवराज खेमे के माने जाते हैं।

Dakhal News

Dakhal News 30 June 2020


bhopal,Gopal Bhargava, big statement, spills pain ,amid speculation ,cabinet

भोपाल। मध्य प्रदेश में शिवराज कैबिनेट के विस्तार को लेकर उठा पटक जारी है। बताया जा रहा है कि एक जुलाई को मंत्रिमंडल विस्तार हो सकता है। ऐसे संकेत मिल रहे हैं कि इस बार शीर्ष नेतृत्व सिंधिया समर्थक चेहरों के साथ युवाओं को मंत्रिमंडल में मौका देना चाहता है। अगर ऐसा होता है तो भाजपा के कई वरिष्ठ विधायक, मंत्री पद से वंछित रह जाऐंगे। ऐसे हालात में पार्टी में विरोध के स्वर तेज हो सकते हैं। इन अटकलों के बीच आठ बार से विधायक रहे भाजपा के वरिष्ठ नेता और पूर्व नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव का बड़ा बयान सामने आया है। गोपाल भार्गव के बयान के बाद सियासी गलियारों में हडक़ंप मच गया है। खासतौर से भाजपा में इसका खास असर देखने को मिल रहा है।   दरअसल कैबिनेट विस्तार की अटकलों के बीच भाजपा की पिछली तीन सरकारों में मंत्री रह चुके और आठ बार के विधायक गोपाल भार्गव ने मंगलवार को एक बयान देकर सभी को चौंका दिया है। उन्होंने कैबिनेट विस्तार को लेकर कहा है कि भाजपा भी वही गलती कर रही है जो कांग्रेस ने की थी। पार्टी को वरिष्ठ नेताओं का सहयोग लेना चाहिए। उन्होंने यह भी कहा कि केन्द्र के फार्मूले को प्रदेश में लागू नहीं करना चाहिए। बताते चले कि जिन संभावित नामों को मंत्रिमंडल से बाहर किया जाना है, उनमें से एक नाम गोपाल भार्गव का भी है। उनके इस बयान को उन्हें मंत्रिमंडल से बाहर किए जाने से जोडक़र देखा जा रहा है। हालांकि पार्टी भार्गव को मनाने के लिए उन्हें विधानसभा अध्यक्ष का पद दे सकती है।    बताते चले कि अगर प्रदेश के मंत्रिमंडल विस्तार में केंद्रीय नेतृत्व का फॉर्मूला चलता है तो गोपाल भार्गव, विजय शाह, सुरेंद्र पटवा, रामपाल सिंह, राजेंद्र शुक्ला, प्रेम सिंह पटेल, पारस जैन, नागेंद्र सिंह, करण सिंह वर्मा, जगदीश देवड़ा, गौरीशंकर बिसेन, अजय विश्नोई, भूपेंद्र सिंह का मंत्री बनना मुश्किल नजर आ रहा है। यह सभी चेहरे शिवराज खेमे के माने जाते हैं।

Dakhal News

Dakhal News 30 June 2020


bhopal, Madhya Pradesh ,cabinet expansion ,postponed again, CM Shivraj ,returns from Delhi

भोपाल। मध्यप्रदेश में मंगलवार को होने वाला संभावित शिवराज मंत्रिमंडल का विस्तार एक बार फिर टल गया है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान मंगलवार को सुबह दिल्ली से भोपाल लौट आए हैं। उनके साथ प्रदेश भाजपा अध्यक्ष अध्यक्ष विष्णुदत्त शर्मा और संगठन महामंत्री सुहास भगत भी वापस आ गए हैं। संभावना है कि अभी मंत्रिमंडल विस्तार के लिए एक-दो दिन का इंतजार करना पड़ सकता है।   मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान भाजपा प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा और संगठन महामंत्री सुहास भगत के साथ विशेष विमान से मंगलवार सुबह भोपाल पहुंचे। यहां स्टेट हैंगर से वे सीधे अपने निवास पहुंचे हैं, जहां पार्टी पदाधिकारियों के साथ बैठक जारी है। बताया जा रहा है कि मंत्रिमंडल में किन-किन लोगों को शामिल करना है, इस पर सहमति नहीं बन पाई है। बताया जा रहा है कि मंत्रिमंडल विस्तार को लेकर शाम तक स्थिति स्पष्ट हो पाएगी।   इधर, प्रभारी राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने सोमवार को अपना भोपाल आने का कार्यक्रम टाल दिया था और वे मंगलवार को दोपहर में भोपाल आने वाली थीं, लेकिन अभी तक उनका यहां आने का कार्यक्रम भी निर्धारित नहीं हो पाया है। इसीलिए संभावना है कि अब मंत्रिमंडल का विस्तार, एक जुलाई को हो सकता है।   उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह रविवार शाम को दिल्ली पहुंचे थे और उसी दिन रात में पार्टी के केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा और गृह मंत्री अमित शाह से उनकी उनकी मुलाकात हुई थी। इसके बाद सोमवार को वे राज्यसभा सदस्य ज्योतिरादित्य सिंधिया से मिले और फिर शाम को प्रधानमंत्री से मुलाकात हुई। सोमवार शाम को जानकारी मिली थी कि केन्द्रीय नेतृत्व से मुकालात के दौरान संभावित मंत्रियों के नाम फायनल हो गए हैं और मंगलवार शाम को उन्हें शपथ दिला दी जाएगी लेकिन मंगलवार सुबह सीएम के भोपाल लौटने के बाद फिर अटकलें शुरू हो गई हैं कि मंत्रियों के नाम फाइनल नहीं होने के कारण मंत्रिमंडल विस्तार अटक गया।

Dakhal News

Dakhal News 30 June 2020


indore,IG and DIG ,questioned ,Jeetu Soni

इंदौर। इंदौर में होटल माय होम में 67 महिलाओं को बंधक बनाकर रखने, मानव तस्करी, लूट जैसे 64 आपराधिक प्रकरणों में फरार डेढ़ लाख रुपये से अधिक के इनामी आरोपित जितेंद्र उर्फ जीतू सोनी को गिरफ्तारी के बाद कोर्ट ने पुलिस रिमांड पर सौंपा है। इस दौरान जीतू से पूछताछ की जा रही है। रविवार की रात में आईजी विवेक शर्मा और डीआईजी हरिनारायणचारी मिश्र ने करीब तीन घंटे तक पूछताछ की। बताया जाता है कि जीतू के फरारी काटने के स्थानों और इसमें मदद करने वालों का पता पुलिस द्वारा लगाया जा रहा है।    जीतू सोनी की पुलिस को लंबे समय से उसकी तलाश थी। उसकी तलाश में एसटीएफ टीम मुंबई और गुजरात में लगातार छापामार कार्रवाई कर रही थी। इस बीच इंदौर आईजी विवेक शर्मा को क्राइम ब्रांच के माध्यम से एक अहम् जानकारी लगी कि जीतू गुजरात के बड़ोदरा के पास अमरेली जिले में एक फार्म हाउस पर छिपा हुआ है। आईजी शर्मा व डीआईजी हरिनारायण चारी मिश्रा ने मिशन को गोपनीय रखते हुए क्राइम ब्रांच की दो टीमों को इंदौर से रवाना किया और आखिरकार पुलिस ने जीतू को पकड़ लिया। रविवार को कोर्ट में पेश करने के बाद जीतू को तीन जुलाई तक रिमांड पर सौंपा गया है। इस दौरान जीतू से कड़ी पूछताछ करते हुए यह पता लगाया जा रहा है कि इंदौर से भागने और फरारी के दौरान किन-किन लोगों ने मदद की थी। सूत्र बताते हैं कि कुछ लोगों की जानकारी भी पुलिस को मिली है। वहीं गुजरात के अलावा मुंबई, पश्चिम बंगाल में भी फरारी काटने की जानकारी मिली है।    अधिकारियों के सवाल टाले    जीतू सोनी से बीती रात महिला थाने में आईजी विवेक शर्मा, डीआईजी हरिनारायणचारी मिश्र तथा अन्य अधिकारियों ने अलग-अलग करीब तीन घंटे तक पूछताछ की। इस दौरान उसने महाराष्ट्र तथा गुजरात में अपने करीबियों के साथ ही खेतों में भी फरारी काटने की बात स्वीकारी, लेकिन उससे कोई नई बातें नहीं उगलवा सके। वह अधिकारियों के सवाल को टालता रहा। इस दौरान पुलिस अधिकारियों ने शरण देने वालों के बारे में जानकारी चाही तो जीतू सोनी ने कहा कि वह मेरे अपने करीबी हैं। महिला थाना प्रभारी अनीता गहरवाल ने भी होटल माय होम में महिलाओं को रखे जाने संबंधी बातें पूछीं तो सोनी ने उलटे-सीधे जवाब देना शुरू कर दिए। जीतू द्वारा पुलिस के किसी भी सवाल का ढंग से उत्तर नहीं दिया जा रहा है।   दिन में दो बार मेडिकल होगा    जीतू सोनी के वकील अश्विन अध्यारू ने तीन अलग-अलग आवेदन प्रस्तुत किए थे, जिनमें से दो वकीलों की मुलाकात और हर दिन दो बार मेडिकल की मांग थी, जो मंजूर कर ली, लेकिन पूछताछ और रिमांड अवधि के दौरान वकील की मौजूदगी की अनुमति रद्द कर दी गई। जज ने कहा कि कानून में ऐसा कोई प्रावधान नहीं है कि वकील को रिमांड रूम में अनुमति दी जाए।   एसटीएफ की टीम इंदौर पहुंची    जीतू सोनी से पुलिस कड़ी सुरक्षा में पूछताछ कर रही है। सुरक्षा ऐसी की जिस महिला थाने में जीतू बंद है, उसे पुलिस छावनी में तब्दील कर दिया गया है। जीतू से हनीट्रैप मामले में पूछताछ करने एसटीएफ की टीम भी इंदौर पहुंच चुकी है। एसटीएफ के अधिकारी भी उससे अलग-अलग मामलों में पूछताछ कर सबूत जुटाएंगे।    थाने के बाहर कड़ी सुरक्षा    पुलिस किसी तरह का रिस्क नहीं लेना चाहती, इसलिए थाने के आसपास बंदूकधारी पुलिसकर्मी भी तैनात कर दिए गए हैं। वहीं, सादी वर्दी में भी जवान गश्ती में लगे हुए हैं। आला अधिकारियों ने पुलिसकर्मियों को सख्त हिदायत दी है कि मामले में किसी तरह की कोई रियायत न बरती जाए।    डॉक्टरों ने स्वस्थ बताया    पुलिस जीतू को सबूत की तलाश में अनूप नगर, सहित पुराने ठिकानों पर लेकर जा सकती है। मानव तस्करी के मामले में उसे पश्चिम बंगाल लेकर जाने की भी बात कही जा रही है। इसके पहले जीतू को मेडिकल चेकअप के लिए पुलिस रात में एमवाय अस्पताल लेकर पहुंची। जहां डॉक्टरों ने उसे पूरी तरह से स्वस्थ बताया।    चाय नाश्ता लेकर पहुंचे कुछ लोग   सोमवार सुबह जीतू से जुड़े कुछ लोग चाय और नाश्ता लेकर थाने पहुंचे थे, जिन्हें पुलिसकर्मियों ने बाहर से ही लौटा दिया। वहीं, 5 दिनों के लिए महिला थाने को पलासिया थाने पर शिफ्ट कर दिया गया है।    हनीट्रैप मामले से जुड़ी खबरों से चर्चा में आया    प्रशासन ने जीतू पर पहली बार 30 नवंबर 2019 को केस दर्ज किया था। इसके बाद एक-एक कर पुलिस ने हत्या, ब्लैकमेलिंग, धमकी और बलात्कार से जुड़े 64 केस दर्ज किए। प्रशासन के माफिया अभियान में जीतू का आलीशान बंगला, चर्चित 'माय होम होटल समेत कुछ अन्य होटल ढहाए गए। इसके साथ इंदौर से प्रकाशित होने वाले  संझा लोकस्वामी  अखबार की इमारत समेत तमाम संपत्तियों को जिला प्रशासन ने जमींदोज कर दिया था। कहा जाता है कि जीतू सोनी जिस अखबार का मालिक था, उसमें हनी ट्रैप से जुड़े बातचीत के कुछ अंश प्रकाशित हुए थे। आरोपों के मुताबिक, ये बातचीत 5 महिलाओं और तत्कालीन सरकार के एक मंत्री और मुख्य सचिव के बीच हुई थी। अखबार के वेब पोर्टल पर हनीट्रैप कांड से जुड़े वीडियो अपलोड किए गए थे, जिसके बाद जीतू के ठिकानों पर एक साथ छापे मारे गए।   शिकायत के बाद एक्शन में आई थी पुलिस   इंदौर नगर निगम के इंजीनियर हरभजन की शिकायत के बाद पुलिस एक्शन मोड में आई। 1 दिसंबर 2019 की रात पुलिस ने अखबार के मालिक जीतू उर्फ जितेंद्र सोनी और उनके बेटे अमित सोनी के गीता भवन चौराहा स्थित होटल माय होम, घर और दफ्तरों पर छापे मारे। पुलिस के मुताबिक, होटल माय होम में 67 युवतियां मिलीं, जिन्हें बंधक बनाकर जिस्मफरोशी करवाई जा रही थी। वहीं बंगले से पुलिस को हनीट्रैप कांड से जुड़े दस्तावेज, पेन ड्राइव, सीडी, 30 से ज्यादा प्लॉट, जमीनों की रजिस्ट्री मिली, जिनकी बाजार में कीमत 150 करोड़ से ज्यादा बताई गई। इसके बाद पुलिस ने जीतू, अमित और अन्य परिजन पर मानव तस्करी, आईटी एक्ट, आम्र्स एक्ट, प्रतिबंधात्मक और शासकीय कार्य में बाधा का केस दर्ज किया। अमित को गिरफ्तार कर लिया, जबकि जीतू सोनी फरार हो गया था।

Dakhal News

Dakhal News 29 June 2020


bhopal, Mohini Rana, daughter ,former Chief Secretary,MS Singhdeo, dies

भोपाल/अंबिकापुर। छत्तीसगढ़ के सरगुजा राजपरिवार की सदस्य और प्रदेश के पूर्व मुख्य सचिव एमएस सिंहदेव की बेटी तथा छत्तीसगढ़ के पंचायत ग्रामीण विकास व लोक स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंह देव की दीदी मोहिनी सिंह राणा का सोमवार सुबह निधन हो गया। उन्हें कुछ ही दिन पहले नेपाल से भोपाल लाया गया था, जहां वे सरगुजा हाउस में रह रही थीं।    नेपाल में ब्याही मोहिनीसिंह राणा सरगुजा में पिंकी दीदी के नाम से चर्चित थीं। लंबी बीमारी के कारण उन्हें नेपाल से मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल स्थित सरगुजा हाउस लाया गया था, जहां उनका कैंसर का उपचार भी चल रहा था। बीती रात उनकी तबीयत बिगड़ी और सोमवार सुबह उनका निधन हो गया। उनके निधन से सरगुजा राजपरिवार में शोक का माहौल है। सरगुजा में जन्मी मोहिनी सिंह राणा मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्य सचिव स्व. मदनेश्वर शरण सिंहदेव एवं पूर्व मंत्री स्व देवेन्द्र कुमारी की जयेष्ठ पुत्री व छत्तीसगढ़ के स्वाथ्यमंत्री त्रिभुवनेश्वर शरण सिंहदेव व कांग्रेस की पंजाब प्रभारी आशा कुमारी, भोपाल के अरुणेश्वर शरण सिंहदेव की दीदी थीं। उनके अकस्मात निधन से सरगुजा, नेपाल, भोपाल में शोक की लहर है।

Dakhal News

Dakhal News 29 June 2020


bhopal,Tomorrow, may be extension, Shivraj

भोपाल। मध्य प्रदेश में सीएम शिवराज के कैबिनेट का विस्तार जल्द हो जाएगा। मंत्रिमंडल विस्तार पर चर्चा करने के लिए सीएम शिवराज दिल्ली में हैं। जहां उन्होंने भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा, केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर से मुलाकात की। इसके बाद सीएम शिवराज आज प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से मुलाकात करेंगे। इस मुलाकात में मंत्रिमंडल विस्तार को लेकर अहम चर्चा हो सकती है।   इसके बाद सोमवार शाम को ही मुख्यमंत्री शिवराज दिल्ली में स्थित मध्यप्रदेश भवन में आयोजित प्रेस वार्ता में शामिल होंगे। संभावना जताई जा रही है कि इस प्रेस वार्ता में केंद्रीय नेतृत्व से नामों पर सहमति बनने की जानकारी सीएम शिवराज मीडिया को देंगे। कैबिनेट में सिंधिया समर्थक चेहरे भी शामिल किए जाऐंगे। सीएम शिवराज सोमवार शाम को ही भोपाल लौट आऐंगे और कल मंगलवार को मंत्रिमंडल विस्तार हो सकता है। कैबिनेट को शपथ दिलाने के लिए उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल को मप्र का अतिरिक्त प्रभार सौंपा गया है। मध्य प्रदेश के राज्यपाल लालजी टंडन स्वास्थ्य कारणों से छुट्टी पर हैं। मध्य प्रदेश में शिवराज सरकार की कैबिनेट का विस्तार होना है। ऐसे में राष्ट्रपति की ओर से आनंदीबेन पटेल को सूबे की अतिरिक्त जिम्मेदारी दी गई है।   गौरतलब है कि पिछले कई दिनों से शिवराज मंत्रिमंडल विस्तार की अटकलें लगाई जा रही थी। जून माह में मंत्रिमंडल विस्तार को लेकर सीएम शिवराज, गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा, प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा लगातार बैठके की। वहीं अब मंत्रिमंडल विस्तार की प्रक्रिया अंतिम चरण में हैं।

Dakhal News

Dakhal News 29 June 2020


bhopal,PM Modi ,fills new, zeal among, countrymen ,through Mann Ki Baat ,CM Shivraj

भोपाल। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने रविवार को अपने रेडियो कार्यक्रम ‘मन की बात’ कार्यक्रम के माध्यम से देशवासियों को संबोधित किया। उन्होंने चीन को करारा जवाब देने की बात कहते हुए देश को आत्मनिर्भर बनाने का संकल्प भी दोहराया। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सोशल मीडिया के माध्यम से अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 'मन की बात' के माध्यम से सभी देशवासियों को नई ऊर्जा, नए उत्साह और नए जोश से भर दिया है।   मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने रविवार को ट्वीट किया है कि - ‘भले ही यह विपदा का काल हो लेकिन भारत के हर नागरिक में इतनी शक्ति है कि वह बड़ी से बड़ी चुनौती से निपटने के नए रास्ते तलाश कर लेता है। हमारे भारतीय सेना के जांबाज सैनिक पूरी बहादुरी के साथ दुश्मन से लड़े और वीरगति को प्राप्त हुए। भारत मां की रक्षा करते हुए उन्होंने सर्वोच्च बलिदान दिया। देश की रक्षा में अपना सर्वस्व न्योछावर करने वालों को चिरकाल तक याद रखा जाएगा, वे हमें सदैव प्रेरित करेंगे।’   उन्होंने अगले ट्वीट में लिखा है कि -‘प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सशक्त नेतृत्व में देश में अनेक आवश्यक गतिविधियां पुन: प्रारम्भ हो रही हैं। उनकी प्रेरणा से हम आत्मनिर्भरता की ओर बढ़ रहे हैं। हमें स्थानीय संसाधनों का उपयोग कर वोकल फॉर लोकल होना होगा। हम रोजगार के नए अवसर भी सृजित करेंगे।’

Dakhal News

Dakhal News 28 June 2020


Indore, crime branch , huge success, Jeetu Soni ,absconding , seven months, arrested

इंदौर। इंदौर क्राइम ब्रांच की टीम ने मानव तस्करी सहित 45 से अधिक मामलों में सात महीने से फरार मोस्ट वांटेड आरोपित जीतू सोनी को गिरफ्तार करने में सफलता प्राप्त कर ली है। उसे शनिवार की रात गुजरात के अमरोली के पास एक फार्म हाउस से गिरफ्तार किया गया है। इसकी पुष्टि इंदौर डीआईजी हरिनारायणचारी मिश्र ने रविवार सुबह की है।    बता दें कि जीतू उर्फ जितेंद्र सोनी पर शहर के ज्यादातर थानों में मानव तस्करी, दुष्कर्म, अपहरण, धोखाधड़ी, अवैध वसूली के 45 से ज्यादा प्रकरण दर्ज हैं। पिछले साल 31 नवम्बर-2019 में पुलिस ने पहली बार उसके होटल माय होम सहित अन्य ठिकानों पर छापा मारा था। तब वह पुलिस को चकमा देकर भाग गया था। जीतू सोनी की गिरफ्तारी पर राज्य सरकार और इंदौर पुलिस ने एक लाख साठ हजार रुपये का इनाम घोषित किया था।   डीआईजी हरिनारायणचारी मिश्र ने बताया कि चार दिन पहले क्राइम ब्रांच की टीम गुजरात के अमरेली से उसके बड़े भाई महेंद्र सोनी को गिरफ्तार किया था, तब जीतू सोनी राजकोट स्थित एक फार्म हाउस से भाग गया था। इसके बाद क्राइम ब्रांच की छह टीमों ने शनिवार की रात अलग-अलग जगहों पर छापे मारे। इस दौरान जीतू सोनी को अमरोली के आसपास एक फार्म हाउस से गिरफ्तार किया गया है। पुलिस रविवार दोपहर तक उसे लेकर इंदौर पहुंचेगी।

Dakhal News

Dakhal News 28 June 2020


bhopal, 40 new cases , corona infected ,again increasing, after unlock

भोपाल। मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल को अनलॉक रास नहीं आ रहा है। यहां संक्रमण के फैलाव को रोकने के लिए लागू लॉकडाउन के दौरान संक्रमित मरीजों की संख्या बहुत कम थी, लेकिन एक जून से अनलॉक होने के बाद यहां रोजाना 40-50 नये संक्रमित मिल रहे हैं। यहां अब कोरोना के 40 नये मामले सामने आए हैं। इसके बाद संक्रमित मरीजों की संख्या बढक़र 2745 हो गई है। भोपाल में अब तक कोरोना से 94 लोगों की मौत हो चुकी है।   भोपाल सीएमएचओ कार्यालय से मिली जानकारी के मुताबिक, शनिवार को सुबह प्राप्त रिपोर्ट में 40 नये पॉजिटिव मिले हैं। इसके बाद यहां संक्रमितों की संख्या 2745 हो गई है। हालांकि, अब तक यहां 2011 व्यक्ति कोरोना से जंग जीत चुके हैं और पूरी तरह स्वस्थ होकर अपने घर लौट गए हैं। बता दें कि भोपाल में अनलॉक होने के एक जून को संक्रमित मरीजों की संख्या 1511 थी, जबकि 59 लोगों की मौत हुई थी। अनलॉक के इन 27 दिनों में यह संक्रमितों की संख्या बढक़र 2745 और मृतकों की संख्या 94 हो गई है। यानी जून में अब तक यहां 1234 नये संक्रमित मिले हैं।

Dakhal News

Dakhal News 27 June 2020


bhopal, Former CM ,Kamal Nath , take charge , Leader of Opposition, MP Assembly

भोपाल। मप्र के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष की जिम्मेदारी संभालेंगे। पूर्व मंत्री और वरिष्ठ कांग्रेस नेता पीसी शर्मा ने इसका खुलाया किया है। साथ ही उन्होंने विधानसभा में उपाध्यक्ष पद की भी मांग की है। उल्लेखनीय है कि मप्र विधानसभा का मानसून सत्र 20 जुलाई से शुरू हो जा रहा है। मानसून सत्र पांच दिनों का होगा। सत्र शुरू होने से पहले विधानसभा अध्यक्ष और उपाध्यक्ष के पद को लेकर गहमा गहमी चल रही है।   पूर्व मंत्री और कांग्रेस विधायक पीसी शर्मा ने शनिवार को मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि विधानसभा मेें पूर्व सीएम कमलनाथ ही नेता प्रतिपक्ष होंगे। उन्होंने कहा कि कांग्रेस का चेहरा कमलनाथ है और वही नेता प्रतिपक्ष भी होंगे। इसके साथ ही शर्मा ने विधानसभा में विधानसभा उपाध्यक्ष पद की भी मांग की है। उन्होंने कहा कि भाजपा को विधानसभा उपाध्यक्ष पद कांग्रेस को देना चाहिए। मानसून सत्र में विधायकों के प्रश्न उत्तर न होने पर उन्होंने कहा कि इस व्यवस्था को जारी रखना चाहिए। उन्होंने कहा कि सत्र के पहले दिन अधिसूचना में कोरोना और कानून व्यवस्था जैसे विषयों को शामिल किया गया, जबकि पहले दिन श्रद्धांजलि के बाद कार्यवाही स्थगित हो जाता है।   बतातें चले कि पहले से ही कयास लगाए जा रहे थे कि कमलनाथ ही नेता प्रतिपक्ष की जिम्मेदारी संभालेंगे। उपचुनाव जीत कर वापसी की उम्मीद में बैठी कांग्रेस किसी और नेता को यह जिम्मेदारी नहीं सौंपना चाहती। ऐसे में अपना विश्वास जाहिर करने के लिए इससे पहले सरकार रहते कमलनाथ जिस तरह मुख्यमंत्री और प्रदेश अध्यक्ष दोनों जिम्मेदारी संभाल रहे थे, उसी तरह प्रदेश अध्यक्ष के साथ नेता प्रतिपक्ष की भूमिका में भी रहेंगे। वहीं विधानसभा अध्यक्ष के साथ ही उपाध्यक्ष पद के लिए भी भाजपा ने रणनीति तैयार कर रही है। पूर्ववर्ती कांग्रेस सरकार की तरह भाजपा भी दोनों पद अपने पास ही रखने की तैयारी में है।

Dakhal News

Dakhal News 27 June 2020


bhopal,Coronation Warriors , begin home campaign ,against Bhopal Corona

भोपाल। राजधानी भोपाल में कोरोना को खत्म करने के लिए दो से अधिक कोरोना वारियर्स अब मैदान में उतरकर चुके हैं, वे लगातार 2 दिनों तक यह महासर्वे अभियान चलाएंगे। जिला कलेक्टर अविनाश लवानिया के नेतृत्व में शनिवार से शहर की 51 सघन, स्लम बस्तियो और कंटेन्मेंट क्षेत्रों में सेनेटाइजेशन, सर्वे, स्क्रीनिंग और उसके बाद सेम्पलिंग की कार्यवाही का महाभियान शुरू हो गया है।    सर्वे अभियान के दौरान इन दो दिनों में जिले की लगभग 5 लाख आबादी का सर्वे किया जाना हैं। सर्वे में सर्दी, खांसी, बुखार के मरीजों की सार्थक एप्प में एंट्री कराई जाएगी। उसके बाद उन सभी की डॉक्टर के नेतृत्व में स्क्रीनिग और जररूत होने पर सेम्पलिंग कराई जाएगी। शनिवार को सुबह 7 बजे से 1500 से अधिक सर्वे कार्यकर्ता, नगर निगम, स्वास्थ्य जिले के अधिकारियों का अमले ने अलग- अलग 51 क्षेत्रो में जांच अभियान शुरू कर दिया है।    इसके अलावा सर्वे दल द्वारा मलेरिया की रेपिड जांच, डेंगू लार्वा की जांच, सार्वजनिक जगहों से पानी निकासी, मच्छर मारने की दवाई का छिड़काव और शाम 6 बजे के बाद से फॉगिग कराई जाएगी। लोगों को जागरूक करने के लिये फीवर क्लीनिक के पोस्टर और मास्क लगाने के साथ शारीरिक दूरी बनाने के लिए में लोगों को बताया जाएगा।   इस अभियान की शुरुआत में सर्वे के साथ सभी क्षेत्रों का सेनेटाइजेसन भी कराया जा रहा है। स्क्रीनिंग और सेम्पलिंग की टीम भी लगातार सार्थक एप्प के डाटा के आधार पर कर्रवाई करेगी। मलेरिया जांच, टीम बुखार वाले मरीजों के खून की जांच रेपिड किट से कर रही है। साथ ही दवाई का वितरण भी किया जा रहा है। नगर निगम का अमला खुले प्लॉटों से पानी निकासी और पानी मे मच्छर मारने की दवाइयां डालने का काम कर रहा है। घरों में डेंगू के लार्वा की जांच भी की जा रही है।

Dakhal News

Dakhal News 27 June 2020


new delhi, CBSE ,10th and 12th ,examinations , July 1 canceled

नई दिल्ली)। केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) की 1 जुलाई से होनेवाली परीक्षा रद्द कर दी गई है। 10वीं की परीक्षा पूरी तरह रद्द कर दी गई है जबकि 12वीं की परीक्षा स्थिति सुधरने पर आयोजित की जाएगी। हालांकि इस परीक्षा में शामिल होना छात्रों के ऊपर निर्भर है। वे चाहें तो परीक्षा का विकल्प चुनें, नहीं तो पहले हुई परीक्षाओं के आधार पर अंक मिलेगा।    सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने गुरुवार को केंद्र सरकार की ओर से सुप्रीम कोर्ट को बताया कि मार्किंग की नई व्यवस्था समेत बाकी बातों पर कल तक अधिसूचना जारी हो जाएगी। असेसमेंट के आधार पर 10वीं और 12वीं के नतीजे 15 जुलाई तक घोषित कर दिए जाएंगे। सुनवाई के दौरान भारतीय माध्यमिक शिक्षा प्रमाणपत्र (आईसीएसई) ने कहा कि वह भी 10वीं और 12वीं की परीक्षाएं रद्द कर देगा। असेसमेंट के आधार पर रिज़ल्ट घोषित होंगे। स्थितियां सुधरने पर 12वीं के छात्रों को परीक्षा का विकल्प दिया जाए या नहीं, इस पर बाद में फैसला लिया जाएगा।   सुनवाई के दौरान तुषार मेहता ने बताया कि दिल्ली, महाराष्ट्र और तमिलनाडु सरकार ने परीक्षा आयोजित करने में असमर्थता जताई है। सुप्रीम कोर्ट ने सीबीएसई को निर्देश दिया कि एकेडमिक साल शुरू होने के मसले भी स्पष्ट होने चाहिए। अगर परीक्षा अगस्त में होती है जो एकेडमिक साल सितंबर में शुरू होगा। तब तुषार मेहता ने कहा कि अगस्त के मध्य तक रिजल्ट जारी हो जाएंगे। सुनवाई के दौरान याचिकाकर्ताओं ने कहा कि असेसमेंट के आधार पर नतीजे इसी महीने के अंत तक जारी हों। तब कोर्ट ने कहा कि हम सीबीएसई को निर्देश नहीं दे सकते हैं, इस पर उसे ही फैसला लेना है।     यह याचिका चार अभिभावकों ने अमित बाथला, चारु सिंह, पूनम सिंगला और सुनीता ने दायर की थी। इन अभिभावकों के बच्चे 12वीं कक्षा के छात्र हैं। याचिका में सीबीएसई की बची हुई परीक्षा के नये शेड्यूल को चुनौती दी गई थी। याचिका में कहा गया था कि सीबीएसई 12वीं का रिजल्ट पूर्व की परीक्षा और उसके औसत आधार पर जारी करे क्योंकि कोरोना वायरस का संक्रमण काफी तेजी से फैलने की वजह से छात्रों को परीक्षा देने के लिए बड़ी संख्या में परीक्षा केन्द्रों पर बुलाना काफी जोखिम भरा है। याचिका में यह भी हवाला दिया गया था कि दिल्ली यूनिवर्सिटी ने भी अपने फर्स्ट ईयर और सेकंड ईयर की परीक्षा को रद्द कर दिया है। यहां तक कि आईआईटी ने भी अपनी फाइनल ईयर की परीक्षाएं भी रद्द कर दी हैं। कुछ राज्यों ने यूनिवर्सिटी की परीक्षाएं भी रद्द कर दी हैं।   इस पर कोर्ट ने 17 जून को केंद्र और सीबीएसई को नोटिस जारी करके अभिभावकों की मांग पर विचार करके जवाब मांगा था। केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) की 1 जुलाई से होनेवाली परीक्षा रद्द करके आज कोर्ट को बताया कि मार्किंग की नई व्यवस्था समेत बाकी बातों पर कल तक अधिसूचना जारी हो जाएगी।

Dakhal News

Dakhal News 25 June 2020


bhopal,Kamal Nath, question,CM Shivraj, where did your bicycles ,get rusted,punctured

भोपाल। पेट्रोल और डीजल की कीमतों में रोजाना हो रही बढ़ोत्तरी के विरोध में कांग्रेस के हमले जारी है। एक दिन पहले ही कांग्रेस ने साइकिल रैली और धरने प्रदर्शन कर इसका विरोध किया था। कांग्रेस की इस साइकिल रैली को भाजपा ने पॉलिटिकल ड्रामा बताया था। अब पूर्व सीएम कमलनाथ ने ट्वीट कर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से कहा है कि उन्हें केन्द्र सरकार के विरोध में प्रदर्शन करना चाहिए और  जनता के हित में पेट्रोल डीजल के दामों में राहत की मांग करनी चाहिए।   कमलनाथ ने यूपीए सरकार के समय पेट्रोल- डीजल की मूल्यवृद्धि पर सीएम शिवराज द्वारा सप्ताह में एक दिन साइकिल से मंत्रालय आने की घोषणा की याद दिलाते हुए कहा कि ‘आज 19 वें दिन भी पेट्रोल- डीजल की कीमत में वृद्धि। जनता पर निरंतर महंगाई की मार। पिछले 19 दिनो के दौरान पेट्रोल 8.66 रुपये और डीजल 10.62 रुपये प्रति लीटर महँगा हुआ है। शिवराज जी आपने यूपीए सरकार के दौरान पेट्रोल- डीजल की मूल्यवृद्धि पर जून 2008 में घोषणा की थी कि आप सप्ताह में एक दिन साइकल से मंत्रालय जाएँगे और आपने अपने मंत्रियो से व अधिकारियों से भी यही गुजारिश की थी। ढेरों साइकलें इस दौरान खऱीदी गयी। आपने विरोध स्वरूप साइकल भी चलायी। अब कहाँ गयी वो सारी साइकलें? क्या जंग खा गयी या पंचर हो गयी?   कमलनाथ ने सीएम शिवराज से केन्द्र का विरोध करने का सुझाव देते हुए कहा कि प्रदेश की जनता मूल्यवृद्धि से हाहाकार कर रही है, उनके प्रति कहाँ गया आपका प्रेम? उठिये, जागिये, चलाइये साइकल, करिये मूल्यवृद्धि का विरोध, प्रदेश की जनता को राहत देने के लिये हिम्मत दिखाइये, करिये विरोध केन्द्र सरकार का, करिये माँग राहत की। सत्ता हो या विपक्ष अपना आचरण एक जैसा रखिये, प्रदेश हित को सर्वोपरि रखिये।

Dakhal News

Dakhal News 25 June 2020


bhopal, Health Survey , door-to-door, MP, Chief Minister ,gave instructions, complete preparations

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने निर्देश दिए हैं कि प्रदेश में एक जुलाई से डोर-टू- डोर स्वास्थ्य सर्वे के कार्य की जिलों में तैयारियां पूर्ण करें। सर्वे दल के गठन, उन्हें प्रशिक्षण और सर्वे कार्य के संबंध में आवश्यक मार्गदर्शन दिया जाए। जिला कलेक्टर्स के साथ ही विभिन्न संभागों के लिए समीक्षा का दायित्व निभा रहे वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी सर्वे कार्य की तैयारियों को सुनिश्चित करें। यह निर्देश मुख्यमंत्री ने गुरुवार को मंत्रालय से वीडियो कान्फ्रेंस द्वारा प्रदेश में कोरोना नियंत्रण की समीक्षा करते हुए दिए। इस दौरान मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस, पुलिस महानिदेशक विवेक जौहरी, अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य मोहम्मद सुलेमान उपस्थित रहे।   कान्फ्रेंस के दौरान बताया गया कि प्रदेश में कोरोना का ग्रोथ रेट 1.46 प्रतिशत है जो अन्य प्रांतों से सबसे कम है। मुख्यमंत्री ने कहा कि मध्यप्रदेश में टेस्टिंग की सुविधाओं में वृद्धि, उपचार के लिए बिस्तर क्षमता बढ़ाने, सोशल डिस्टेसिंग के पालन और फीवर क्लीनिक के संचालन से वायरस को नियंत्रित करने में सफलता मिली है। प्रदेश में कोरोना ग्रोथ रेट को कम करने के प्रयास सफल हुए है, जिसका मतलब है कि संक्रमण रोकने में मध्यप्रदेश ज्यादा सफल रहा है। चौहान ने सभी कलेक्टर्स को निर्देश दिए कि कान्टेक्ट हिस्ट्री पर नजर रखने का कार्य लगातार होना चाहिए और पॉजीटिव रोगियों की संख्या भी कम होकर शून्य तक आना चाहिए। उन्होंने स्वास्थ्य आयुक्त डॉ. संजय गोयल को निर्देश दिए कि प्रदेश में रोगियों के स्वास्थ्य में पूर्ण सुधार हो और उन्हें रोग की गंभीर स्थिति से बचाने के पूरे प्रयास हों।   समीक्षा के दौरान जानकारी दी गई कि प्रदेश में बुधवार को 6617 टेस्ट संपन्न हुए हैं। प्रदेश में उपलब्ध रोगी बिस्तर क्षमता का उपयोग भी कम हो रहा है। सामान्य बेड, आईसीयू बेड पर्याप्त हैं, जिनका प्रबंध संक्रमण बढ़ने की आशंका को ध्यान में रखकर किया गया था। इन्दौर जिले में 16 प्रतिशत जनरल वार्ड और 30 प्रतिशत आईसीयू वार्ड का उपयोग हो रहा है। भोपाल में मात्र 15 प्रतिशत आईसीयू वार्ड भरे हुए हैं। इन्दौर और भोपाल जिलों को छोड़कर प्रदेश के अन्य जिलों में औसतन जनरल बेड 9 प्रतिशत और आईसीयू बेड 6 प्रतिशत ही उपयोग में लाये जा रहे हैं। कुल 76.4 प्रतिशत रिकवरी रेट के साथ मध्यप्रदेश देश में दूसरे स्थान पर है। भारत के बड़े प्रांतों में एक्टिव केस संख्या की दृष्टि से मध्यप्रदेश की स्थिति काफी ठीक हुई है। इस समय मध्यप्रदेश 2441 एक्टिव केस के साथ 13वें नंबर पर है। मध्यप्रदेश का पॉजीविटी रेट देश के पॉजीविटी रेट 6.26 से काफी कम 3.92 प्रतिशत है। प्रदेश का डब्लिंग रेट 47.7 दिवस है जो अन्य बड़े राज्यों में ज्यादा है। इसका अर्थ है कि प्रदेश में संक्रमण की रफ्तार को कम करने में ज्यादा सफलता मिली है।    इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने धार और जबलपुर जिलों की पृथक समीक्षा की। कोन्फ्रेंस में जानकारी दी गई कि प्रदेश में 47 जिलों में कम से कम एक एक्टिव केस और 23 जिलों में 10 से कम एक्टिव केस हैं। पांच जिलों में एक भी एक्टिव केस नहीं है। प्रदेश में अभी 1119 कन्टेनमेंट क्षेत्र हैं। इनमें 7.63 लाख आबादी निवासरत है। प्रदेश में करीब 9 हजार पुलिस अधिकारियों और कर्मचारियों द्वारा कोविड-19 में दायित्व निर्वहन किया जा रहा है।   गेहूं और चने के लिए किसानों को मिला 25 हजार 855 करोड़ का भुगतान प्रदेश में उपार्जित गेहूं और चने के लिए किसानों को राशि के भुगतान के कार्य की समीक्षा भी मुख्यमंत्री चौहान ने की। प्रमुख सचिव खाद्य शिव शेखर शुक्ला और प्रमुख सचिव कृषि अजीत केसरी ने प्रदेश में उपार्जित गेहूं और चने के परिवहन और सुरक्षित भंडारण की जानकारी दी। मुख्यमंत्री चौहान ने उपार्जित गेहूं और चने की राशि के भुगतान की जानकारी भी प्राप्त की। बताया गया कि प्रदेश में गेहूं के लिए किसानों के खाते में 23 हजार 455 करोड़ और चने के लिए 2 हजार 400 करोड़ अर्थात कुल 25 हजार 855 करोड़ रुपए की राशि का भुगतान किया जा चुका है।

Dakhal News

Dakhal News 25 June 2020


bhopal, Home Minister ,calls political drama,Congress , bicycle rally

भोपाल। पेट्रोल- डीजल के बढ़ते दामों के विरोध में आज कांग्रेस प्रदेशभर में सभी जिला मुख्यालयों पर विरोध प्रदर्शन करेगी। राजधानी भोपाल और इंदौर में कांग्रेस साइकिल रैली निकाल कर पेट्रोल- डीजल के बढ़ते दाम का विरोध करेगी। इंदौर में साइकिल रैली का नेतृत्व पूर्व मंत्री जीतू पटवारी करेंगे। वही राजधानी भोपाल में कांग्रेस महासचिव और पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह विरोध प्रदर्शन करते हुए साइकिल से सीएम हाउस पहुंचेगे और ज्ञापन सौपेंगे। भोपाल के रोशनपुरा चौराहे से कांग्रेस की साइकिल रैली शुरू होगी। दिग्विजय सिंह के साइकिल प्रदर्शन पर मप्र के गृह एवं स्वास्थ्य मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कटाक्ष किया है। उन्होंने इसे दिग्विजय सिंह का पालिटिकल ड्रामा बताया है।   गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने दिग्विजय सिंह के साईकिल प्रदर्शन पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा है कि दो तरह की सोच काम करती हैं। एक वह सोच जो झूठ बोलकर जनता का ध्यान बांटने की कोशिश कर रही है। कांग्रेस ने अपने घोषणा पत्र में 5 रुपए डीजल- पेट्रोल कम करने की बात कही थी। उन्होंने कहा कि अगर हिम्मत है तो साईकल पर बैठने से पहले दिग्गविजय सिंह जनता से माफी मांगे। यह स्वीकार करें कि हमने झूठ बोला था फिर ज्ञापन देने जाए।   आगे अपने बयान में मंत्री मिश्रा ने तंज कसते हुए दिग्विजय सिंह के साईकल स्टैंड को पॉलिटिकल ड्रामा बताया। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने अपने राज में तेल के दाम कम नहीं किये थे बल्कि 2 रुपए बढ़ाए थे। और वह 2 रुपए तेल पर बढ़ाकर जैकिलन और सलमान पर कमलनाथ सरकार खर्च कर रही थी। यह दो सोच है, एक सोच बहुजन, हिताय बहुजन सुखाय, जिसमें भाजपा सरकार तेल के दाम बढ़ाकर कोरोना पर खर्च करती हैं। एक सोच जैकलीन और सलमान वाली थी, जिसमें कांग्रेस दाम बढ़ाकर आईफा पर खर्च कर रही थी।   गौरतलब है कि दो दिन पूर्व ही पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ ने सरकार को पेट्रोल और डीजल की बढ़ती कीमतों के खिलाफ प्रदेशव्यापी आंदोलन करने की धमकी थी। जिसके बाद अब मध्यप्रदेश कांग्रेस  आज सरकार के खिलाफ प्रदेशव्यापी आंदोलन करने जा रही है।

Dakhal News

Dakhal News 24 June 2020


bhopal, Kill Corona campaign, Madhya Pradesh ,start , July 1

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश में एक जुलाई से किल कोरोना अभियान चलाया जाएगा। भोपाल से अभियान की शुरुआत की जाएगी। प्रदेश के सभी जिलों में वायरस नियंत्रण और स्वास्थ्य जागरूकता के इस महत्वपूर्ण अभियान में सरकार और समाज साथ-साथ कार्य करेंगे। किल कोरोना अभियान प्रत्येक परिवार को कवर करेगा। इसके लिए दल गठित किए जा रहे हैं। कोविड मित्र भी बनाये जायेंगे, जो स्वैच्छिक रूप से इस अभियान के लिये कार्य करेंगे। यह जानकारी मुख्यमंत्री चौहान ने बुधवार को कमिश्नर-कलेक्टर की वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में दिए। साथ ही निर्देश दिए कि वे इस अभियान के लिए आवश्यक तैयारियां अभी से प्रारंभ कर दें।    मुख्यमंत्री चौहान ने निर्देश दिए कि जिलों और संभागों में आईजी और कमिश्नर्स भी कोरोना नियंत्रण पर निगाह रखें। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश के करीब 14 हजार महिला और पुरुष स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं पर सर्वे कार्य की अहम जिम्मेदारी रहेगी। कॉन्फ्रेंस में स्वास्थ्य और गृह मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र, मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस, अपर मुख्य सचिव लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मोहम्मद सुलेमान, प्रमुख सचिव फैज अहमद किदवई, मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव मनीष रस्तोगी और अन्य अधिकारी उपस्थित रहे।   डोर-टू-डोर सर्वे में सभी का सहयोग प्राप्त करें मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश को कोरोना के नियंत्रण में अन्य राज्यों की तुलना में सफलता भी मिली है। लेकिन सजगता का स्तर बना रहे और सभी आवश्यक उपायों को अपनाते रहें, यह बहुत आवश्यक है। चौहान ने कहा कि कोरोना वायरस को समाप्त कर ही हमें चैन की साँस लेना है। प्रदेश में अब डोर-टू-डोर विस्तृत सर्वे के माध्यम से संदिग्ध रोगी की शीघ्र पहचान और उपचार का कार्य अधिक आसान हो जायेगा। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि जिलों में क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप के सदस्यों के साथ ही सभी का सहयोग लेते हुए अभियान को गति दी जाए। वायरस के पूर्ण नियंत्रण की रणनीति के साथ कार्य करना है। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश में ग्रोथ रेट और एक्टिव प्रकरणों की संख्या कम है। मध्यप्रदेश 76.1 प्रतिशत रिकवरी रेट के साथ देश में दूसरे क्रम पर है। वायरस के इस स्प्रेड को रोकने में कामयाबी मिली है।   आमजन भी बने सहयोगी मुख्यमंत्री चौहान ने आमजन से भी अपील की है कि 'किल कोरोना अभियान'' में अपना सहयोग प्रदान करें। घर-घर पहुंच रहे सर्वे दल को आवश्यक जानकारी देकर सहयोग करें। इस सर्वे में महिला और पुरुष स्वास्थ्य कार्यकर्ता, आशा कार्यकर्ता, आँगनवाड़ी कार्यकर्ता शामिल रहेंगे। सर्दी-खांसी जुकाम के साथ ही डेंगू, मलेरिया, डायरिया आदि के लक्षण पाये जाने पर भी जरूरी परामर्श और उपचार नागरिकों को मिल सकेगा। सार्थक एप का उपयोग कर इन जानकारियों की प्रविष्टि की जाएगी। कुल दस हजार दल कार्य करेंगे। सर्वे दल अनुमानित दस लाख घरों में रोज जाएंगे। एक दल करीब 100 घरों तक पहुंचेगा। राज्य की शत-प्रतिशत आबादी को इस सर्वे से कवर किया जाएगा। स्वास्थ्य शिक्षा देने का कार्य भी साथ-साथ चलेगा। विभिन्न तरह की प्रचार सामग्री और प्रत्यक्ष सम्पर्क कर नागरिकों को सर्वे दल के आने की सूचना देने का कार्य एडवांस टीम द्वारा किया जाएगा। इन कार्यों में सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखते हुए नागरिकों से सहयोग प्राप्त किया जाएगा।   ग्वालियर में रोग नियंत्रण प्रयासों की प्रशंसा मुख्यमंत्री चौहान ने वीडियो कॉन्फ्रेंस में ग्वालियर जिले में कोरोना वायरस के नियंत्रण के प्रयासों की प्रशंसा करते हुए कलेक्टर को बधाई दी। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि ग्वालियर इस क्षेत्र में अच्छे कार्य का एक उदाहरण बना है। उन्होंने अन्य जिलों में भी निरंतर पूरी ऊर्जा से वायरस नियंत्रण के साथ-साथ टेस्टिंग सुविधा, उपचार, सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखे जाने के निर्देश दिए। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि कोरोना के टेस्ट की रिपोर्ट और कम समय में आ जाये, ऐसे प्रयास किये जायें। इससे पॉजीटिव पाये गये रोगी के शीघ्र और पूर्ण सफल उपचार में आसानी होगी।   3 लाख को दी गई विशेष ट्रेनिंग प्रदेश में करीब 3 लाख लोगों को कोविड-19 के दृष्टिगत जांच, उपचार, क्वांरेंटाइन, सर्वेलांस, संक्रमित क्षेत्र के लिए आवश्यक सावधानियाँ बरतने, सोशल डिस्टेंसिंग आदि का प्रशिक्षण दिया गया है। प्रशिक्षित लोगों में चिकित्सक, नर्स, स्वास्थ्य कार्यकर्ता आदि शामिल हैं।कोविड से संबंधित कार्यों की इस ट्रेनिंग में आशा वर्कर्स और वालंटियर्स भी शामिल हैं।   नौ हजार की क्षमता हो गई प्रतिदिन बैठक में बताया गया कि मध्यप्रदेश में देश के अन्य राज्यों की तुलना में बेहतर नियंत्रित किया गया है। इस समय नौ हजार की क्षमता हो गई है। प्रतिदिन बढ़ती जाँच क्षमता के कारण पॉजीटिव रोगियों के सामने आने और उन्हें उपचार के बाद स्वस्थ करने के कार्य में आसानी हुई है। इसलिए मध्यप्रदेश रिकवरी रेट में काफी आगे है। प्रमुख सचिव चिकित्सा शिक्षा ने जानकारी दी कि प्रदेश में चिकित्सा महाविद्यालयों के नए उपकरणों के स्थापित होने से शीघ्र ही 16 हजार से अधिक टेस्टिंग की सुविधा विकसित हो जाएगी।   प्रदेश में किए गए प्रबंध आवश्यकता से काफी अधिक कोरोना पॉजीटिव रोगियों को कोविड केयर सेंटर में दाखिल करने के लिए प्रदेश में जो उपलब्ध बिस्तर क्षमता है उसका 20 प्रतिशत ही उपयोग किया जा रहा है। कॉन्फ्रेंस में जानकारी देते हुए बताया गया कि प्रदेश में कुल 24 हजार 235 जनरल बेड, 8 हजार 924 ऑक्सीजन बेड और एक हजार 105 आई.सी.यू. बेड उपलब्ध हैं। शासकीय और निजी अस्पतालों में प्रदेश में वायरस के प्रसार की आशंका के कारण यह क्षमता विकसित की गई। इसका एक चौथाई से कम ही उपयोग में आ रहा है। प्रदेश के जिला अस्पतालों में जुलाई माह के अंत तक कुल 956 आई.सी.यू. बेड उपलब्ध रहेंगे। इसी तरह मेडिकल कॉलेज में इनकी संख्या 777 हो जायेगी। जिला और मेडिकल कॉलेज में मिलाकर अगले माह के अंत तक करीब 12 हजार ऑक्सीजन बेड उपलब्ध होंगे।    बताया गया कि प्रदेश में तीन माह में मिले करीब 12 हजार पॉजीटिव प्रकरणों में कॉन्टेक्ट ट्रेसिंग का कार्य भी पूर्ण हो गया है। यह इंदौर और ग्वालियर में 99 और 98 प्रतिशत तथा भोपाल, उज्जैन और बुरहानपुर में 100 प्रतिशत है। प्रदेश में 22 जून की स्थिति में 912 फीवर क्लीनिक कार्य कर रही हैं। इन क्लीनिक्स में आये रोगियों में से 77 प्रतिशत रोगियों को घर में आयसोलेट रहने का परामर्श दिया गया। प्रदेश में औसतन प्रति क्लीनिक 3019 रोगी पहुंचे हैं। इनमें सर्वाधिक भोपाल के नागरिक जागरूक हैं, जो प्रति क्लीनिक औसतन 304 की संख्या में जाकर परामर्श प्राप्त कर चुके हैं।   प्रदेश का ग्रोथ रेट सबसे कम कॉन्फ्रेंस में बताया गया कि प्रदेश की ग्रोथ रेट 1.43 है। यह सभी राज्यों से बेहतर है। वैसे तो प्रदेश में गत 5 सप्ताह से वायरस के नियंत्रण में तेजी आयी है, लेकिन निरंतर प्रत्येक स्तर पर किये गये प्रयासों से प्रदेश की स्थिति बेहतर बन सकी है। देश की आबादी में कभी मध्यप्रदेश के 6 प्रतिशत रोगी होते थे जो आज मात्र 1.3 प्रतिशत ही हैं। इंदौर नगर से देश के कुल कोविड रोगियों में 6.3 प्रतिशत शामिल थे, जो अब मात्र 01 प्रतिशत हैं। भोपाल और उज्जैन नगरों में भी नियंत्रण के प्रयास काफी सफल हुए हैं। एक्टिव प्रकरणों में जहाँ भारत का प्रतिशत 40 है वहीं मध्यप्रदेश में सिर्फ 19 प्रतिशत एक्टिव प्रकरण ही शेष हैं। इसका अर्थ है वायरस की तीव्रता भी कम हो रही है और मध्यप्रदेश संक्रमण का प्रकोप रोकने में अधिक सफल है। प्रदेश के 33 जिलों में 10 से कम एक्टिव केस हैं।   समुदाय आधारित प्रयासों पर होगा अमल कॉन्फ्रेंस में स्वास्थ्य मिशन की प्रबंध संचालक छवि भारद्वाज ने प्रजेंटेंशन में बताया कि सार्थक एप की उपयोगिता बढ़ रही है। प्रदेश के नागरिकों के स्वास्थ्य सर्वे में यह एप महत्वपूर्ण सिद्ध होगा। कोविड मित्र की महत्वपूर्ण भूमिका होगी। समुदाय आधारित प्रयासों से सर्विलेंस आसान होगा। जिला प्रशासन ऐसे स्वैच्छिक कार्यकर्ताओं को शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में कोविड मित्र का दायित्व दे सकता है, जो 45 वर्ष की आयु से कम हों। इस कार्य में स्वैच्छिक संगठन भी जुड़ेंगे।

Dakhal News

Dakhal News 24 June 2020


bhopal, Chief Minister, instructions 10 hours , irrigation , 24 hours power

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने निर्देश दिए हैं कि प्रदेश में सिंचाई के लिए किसानों को 10 घंटे बिजली एवं घरेलू उपभोक्ताओं को 24 घंटे बिजली मिले यह सुनिश्चित किया जाए। प्रदेश में जरूरत से अधिक बिजली उपलब्ध है, अत: बिजली आपूर्ति में कमी नहीं आनी चाहिये। इसके लिए बिजली विभाग सिस्टम ठीक करे, व्यवस्थाएं सुधारे। मेटेनेंस कार्य निरंतर जारी रहें। यह निर्देश मुख्यमंत्री ने बुधवार को मंत्रालय में बिजली विभाग के कार्यों की समीक्षा करते हुए दिए।    बैठक में मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि कृषि पंपों के लिए दिए जाने वाली बिजली संबंधी सहायता की राशि सीधे किसानों के खातों में डाली जाएगी। अत: यह सुनिश्चित किया जाए कि लाभ लेने वाला हर किसान बिजली का बिल भरे। बिजली की चोरी सख्ती से रोकी जाए। उन्‍होंने कहा कि प्रदेश में हमारी आवश्यकता से अधिक बिजली उपलब्ध है। हमारी क्षमता 21 हजार मेगावॉट की है, जबकि गत वर्ष एक दिन में अधिकतम बिजली 14 हजार 555 मेगावॉट खर्च हुई। इस वर्ष अधिकतम संभावित आवश्यकता 16 हजार मेगावॉट होगी। मुख्यमंत्री ने अतिरिक्त बिजली को अन्य राज्यों को देने के निर्देश दिए।   प्रमुख सचिव संजय दुबे ने बताया कि लॉकडाउन के कारण बिजली की खपत में 10 से 15 प्रतिशत की कमी आई है। अच्छी बारिश के कारण भी बिजली की मांग में कमी आई है। मुख्य श्री इकबाल सिंह बैंस ने निर्देश दिए कि मध्य क्षेत्र में ट्रिपिंग बढ़ी है। वहां की स्थिति सुधारी जाए, सर्वाधिक शिकायतें मध्य क्षेत्र से आ रही हैं। प्रमुख सचिव संजय दुबे ने बताया कि प्रदेश में बिजली की शिकायतों के त्वरित निवारण की व्यवस्था की गई है। बिजली संबंधी शिकायतों का निराकरण एक घंटे में कर दिया जाता है। साथ ही खराब ट्रांसफार्मर एक से 3 दिन में बदल दिए जाते हैं। बैठक में मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस, प्रमुख सचिव संजय दुबे, मनीष रस्तोगी, आकाश त्रिपाठी उपस्थित रहे।

Dakhal News

Dakhal News 24 June 2020


bhopal,38 thousand ,crore direct ,relief given , Corona crisis, Shivraj

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की उपस्थिति में मंगलवार को मंत्री मंडल सदस्यों को विद्युत उपभोक्ताओं और नागरिकों को कोविड 19 के संकट में विभिन्न योजनाओं में दिए आर्थिक लाभ और राहत की जानकारी विस्तार से दी गई। मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना के कारण आर्थिक क्षेत्र प्रभावित हुआ है। लोगों की तकलीफ को कम करने के लिए राज्य सरकार ने समय पर प्रत्येक वर्ग के कल्याण के लिए उन्हें राहत पहुंचाते हुए राशियों के ऑनलाइन भुगतान की व्यवस्था की। इससे कोविड-19 के संकट काल में आमजन को प्रत्यक्ष लाभ मिला है। बैठक में मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा, तुलसी सिलावट, कमल पटेल, गोविंद सिंह राजपूत और मीना सिंह, मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस उपस्थित रहे।        बैठक में बताया गया कि लॉक डाउन अवधि में समाज के विभिन्न वर्गों तक राहत के लिए राशि का भुगतान किया गया। प्रमुख रूप से 24 विभागों ने छात्रवृत्ति, पेंशन, श्रमिक और किसान कल्याण योजनाओं में 38 हजार करोड़ रुपए की राशि पहुंचाने का कार्य किया है। मुख्यमंत्री चौहान ने कुछ अवसरों पर खुद सहारिया, बैगा, भारिया आदिवासियों सहित प्रवासी श्रमिकों, छात्रों और विभिन्न योजनाओं के अन्य हितग्राहियों से विभिन्न वीडियो कांफ्रेंस से संवाद करते हुए उनके खाते में राशि जमा करवाई।   योजना और आवंटित राशि का विवरण सामाजिक सुरक्षा पेंशन के 562.34 करोड़, तीन विशेष पिछड़ी जनजातियों के लिए 44.60 करोड़, मुख्यमंत्री प्रवासी मजदूर सहायता योजना में 14.81 करोड़, श्रम सिद्धि अभियान और मनरेगा के अंतर्गत 1862 करोड़, फसल बीमा योजना के 2981 करोड़, प्रधानमंत्री किसान सम्मान योजना जो भारत सरकार की योजना है, में 1500 करोड़, स्कूल शिक्षा विभाग के अंतर्गत मध्यान्ह भोजन योजना में 87.49 लाख विद्यार्थियों को 263 करोड़ और रसोइयों के खातों में 84 करोड़ की राशि दी गई। इसी तरह छात्रवृत्ति की योजनाओं में 51 लाख विद्यार्थियों को 475.30 करोड़ दिए गए। गेहूँ उपार्जन के फलस्वरुप करीब 16 लाख किसानों को 24,000 करोड़ की राशि प्रदान की गई है।    इसके साथ ही चना सरसों और मसूर की खरीदी पर लगभग 3 लाख किसानों को 2762 करोड़ रुपए की राशि दी गई। तेंदूपत्ता संग्राहकों को 477 करोड़, संबल योजना में 24 हजार से अधिक हितग्राहियों को 137.41 करोड़, करीब नौ लाख निर्माण श्रमिकों 177 करोड़ की राशि दी गई। प्रधानमंत्री मातृ-वंदना योजना में 36 करोड़ की राशि दी गई।अलाडली लक्ष्मी योजना में 12.27 करोड़, मुख्यमंत्री स्वेच्छानुदान निधि में 8.24 करोड़, प्रधानमंत्री आवास योजना में शहरी क्षेत्र के लिए 82.41 करोड़ और ग्रामीण क्षेत्र के लिए 451 करोड़ की राशि दी गई।    अध्यात्म विभाग द्वारा शासकीय देव स्थानों के पुजारियों के लिए 6 करोड़, बिजली उपभोक्ताओं को 623 करोड़ की राशि प्राप्त हो रही है। इसके अलावा जीवन अमृत योजना में दवा और काढ़ा वितरण पर 35 करोड़ की राशि प्रदान की गई। अन्य योजनाओं में पंच-परमेश्वर योजना में 70 करोड़, निराश्रितों, प्रवासी मजदूरों को खाद्यान्न प्रदाय पर 120.96 करोड़, कोराना संकट के फलस्वरूप अन्य प्रदेशों से आए मजदूरों के राहत शिविरों के प्रबंध के लिए जिलों को 21 करोड़ के आवंटन के साथ ही प्रवासी श्रमिकों की परिवहन व्यवस्था के लिए 47 करोड़ दिए गए। इसके साथ ही उपभोक्ताओं को खाद्यान्न आपूर्ति और अग्रिम राशन प्रदाय की व्यवस्था की गई। कुल 7.71 लाख मीट्रिक टन गेहूँ और चावल वितरित किया गया। राज्य सरकार ने पंच-परमेश्वर योजना में 1555 करोड़ की राशि और 15वें वित्त आयोग में नगरीय निकायों को 330 करोड़ रुपये आवंटित किये गए। इसके साथ ही अध्यात्म विभाग द्वारा मंदिरों के जीर्णोद्धार के लिए दी गई राशि 2.46 करोड़ शामिल है।   बिजली उपभोक्ताओं के लिए राहत का महत्वपूर्ण फैसला प्रदेश के बिजली उपभोक्ताओं को कोविड-19 के संकट के समय बड़ी राहत देते हुए महत्वपूर्ण फैसला लिया गया। इनके अन्तर्गत विभिन्न श्रेणी के विद्युत उपभोक्ताओं को लाभांवित करने का कार्य प्रारंभ हुआ है। बताया गया कि 30.68 लाख संबल योजना के हितग्राही जिनके अप्रैल महीने के बिजली के बिल की राशि 100 रुपये तक है, उन्हें मई, जून और जुलाई महीनों में 100 रुपये तक का बिल आने पर सिर्फ 50 रुपये प्रतिमाह देना होगा। यह छूट राशि 46 करोड़ रुपये है। अप्रैल माह में जिन घरेलू उपभोक्ताओं के बिजली बिल 100 रुपये तक आये हैं, उनके मई, जून और जुलाई महीनों के बिल 400 रुपये तक आने पर सिर्फ 100 रुपये प्रतिमाह देना होगा। इस श्रेणी के उपभोक्ताओं की संख्या 56 लाख और छूट की राशि 255 करोड है। इसी तरह ऐसे घरेलू उपभोक्ता जिनके अप्रैल महीने के बिजली का बिल 400 रुपये तक आया है उन्हें मई, जून और जुलाई महीनों के बिजली बिल 400 रुपये से अधिक आने पर देयक की राशि का50 प्रतिशत ही भुगतान करना होगा। इस श्रेणी के उपभोक्ताओं की संख्या 7.71 लाख और छूट राशि 183 करोड़ रुपये है। शेष 50 प्रतिशत राशि के भुगतान का फैसला देयक की जाँच के बाद किया जायेगा।   प्रमुख सचिव ऊर्जा ने प्रेजेंटेशन के माध्यम से मंत्रिमण्डल सदस्यों को विद्युत उपभोक्ताओं के लिए घोषित राहत के संबंध में विस्तृत जानकारी दी। उन्होंने बताया कि, सभी श्रेणियों के लाभांवित उपभोक्ताओं की संख्या 95 लाख और छूट राशि 623 करोड रुपये है। उपभोक्ताओं को एसएमएस भेजकर भी राहत की जानकारी देने का कार्य शुरू किया गया है। विद्युत देयकों के साथ ही संदेश पहुँचाया जा रहा है।

Dakhal News

Dakhal News 23 June 2020


bhopal,Preparation,make acting governor,cabinet expansion

भोपाल। मध्य प्रदेश में शिवराज कैबिनेट के विस्तार को लेकर चर्चाएं तेज है। जिसे लेकर भाजपा में बैठकों का दौर जारी है। लेकिन राज्यपाल लालजी टण्डन की तबीयत खराब होने के कारण मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान अपने मंत्रिमंडल का विस्तार नहीं कर पा रहे हैं। पहले कोरोना के चलते मंत्रिमंडल का विस्तार अटक गया था, अब राज्यपाल की अस्वस्थता इसमें अवरोध बनी हुई है। ऐसे में अटकलें लगनी शुरू हो गई हैं कि अब मध्यप्रदेश में कार्यवाहक राज्यपाल नियुक्त कर मंत्रिमंडल का विस्तार किया जा सकता है। बताया जा रहा है कि राज्यपाल लालजी टंडन के अस्वस्थ होने के कारण मप्र में मंत्रिमंडल विस्तार अब कार्यवाहक राज्यपाल बनाकर होगा। इसके लिए छत्तीसगढ़ की राज्यपाल अनुसूइया उइके को मप्र का अतिरिक्त प्रभार सौंपा जा सकता है। इसी सप्ताह उन्हें मप्र की जिम्मेदारी भी सौंपी जा सकती है। बता दें कि जून के शुरुआत में ही राज्यपाल लालजी टण्डन अवकाश पर लखनऊ गए थे, जहां उनकी तबीयत खराब हो गई, जिसके चलते उन्हें लखनऊ के मेदांता अस्पताल में भर्ती किया गया है। बताया गया है कि उन्हें वेटिंलेटर पर रखा गया है। मीडिया के मुताबिक, उनके स्वास्थ्य में सुधार हो रहा है, लेकिन अस्वस्थता के चलते वे जल्द लौटने की स्थिति में नहीं हैं, इसलिए प्रदेश में कार्यवाहक राज्यपाल बनाने की तैयारी शुरू कर दी गई है। ताकि मध्यप्रदेश में मंत्रिमंडल विस्तार का अवरोध समाप्त हो सके।

Dakhal News

Dakhal News 23 June 2020


bhopal, 523 people , died,corona,MP,  number infected,12147

भोपाल। मध्यप्रदेश में कोरोना संक्रमित मरीजों का रिकवरी रेट 75 फीसदी से अधिक है। इसके बाद भी नये मामलों में कमी नहीं आ रही है। यहां अब चार जिलों में 69 नये मामले सामने आए हैं, जबकि दो लोगों की मौत हुई है। इसके बाद राज्य में संक्रमितों की संख्या 12 हजार 147 हो गई है। वहीं, प्रदेश में कोरोना से अब तक 523 लोगों की मौत हो चुकी है।   इंदौर के मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. प्रवीण जडिय़ा ने मंगलवार को बताया कि एमजीएम मेडिकल कॉलेज द्वारा सोमवार देर रात 1588 सेम्पलों की जांच रिपोर्ट जारी की, जिनमें 54 पॉजिटिव मिले हैं। वहीं, कोरोना से दो लोगों की मौत की भी पुष्टि हुई है। इसके बाद जिले में कोरोना संक्रमित मरीजों की कुल संख्या 4427 है, जबकि मरने वालों की संख्या 203 हो गई है। इसके अलावा धार में नौ, उज्जैन में चार और बालाघाट में दो नये संक्रमित मिले हैं।   इन 69 नये मामलों के बाद अब राज्य में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 12,147 हो गई है। इनमें सबसे अधिक इंदौर में 4427, भोपाल 2527, उज्जैन 848, खंडवा 287, बुरहानपुर 390, जबलपुर 360, खरगौन 263, धार 155, ग्वालियर 292, नीमच 427, मंदसौर 101, सागर 292, मुरैना 172, देवास 205, रायसेन 98, भिंड 150, बड़वानी 80, होशंगाबाद 41, रतलाम 137, रीवा 43, विदिशा 42, बैतूल 46, सतना 24, छतरपुर 53, डिंडौरी 30, दमोह 30, आगरमालवा 16, झाबुआ 15, अशोकनगर 43, शाजापुर 49, सीधी 19, सिंगरौली 15, दतिया 21, शहडोल 16, बालाघाट 20, श्योपुर 64, शिवपुरी 24, टीकमगढ़ 29, छिंदवाड़ा 32, नरिसंहपुर 27, सीहोर 12, उमरिया 10, पन्ना 26, अलीराजपुर 03, अनूपपुर 29, हरदा 25, राजगढ़ 80, गुना 12, मंडला 06, सिवनी 11 निवाड़ी 08 और कटनी 15 मरीज शामिल हैं।    वहीं, इंदौर में हुई दो मौतों के बाद राज्य में कोरोना से मरने वालों की संख्या 523 हो गई है। मृतकों में सबसे अधिक इंदौर के 203, भोपाल 85, उज्जैन 69, बुरहानपुर 23, खंडवा 17, जबलपुर 14, खरगौन 14, ग्वालियर 02, धार 05, मंदसौर 09, नीमच 07, सागर 18, देवास 10, रायसेन 05, होशंगाबाद 03, सतना 02, आगरमालवा 01, झाबुआ 01, अशोकनगर 01, शाजापुर 03, दतिया 01, छिंदवाड़ा 02, सीहोर 02, उमरिया 01, रतलाम 06, बड़वानी 03 मुरैना 01, राजगढ़ 05, श्योपुर 02, टीमकगढ़ 01, रीवा 01, गुना 01, हरदा 01, कटनी 02, सीधी 01 और मंडला का एक व्यक्ति शामिल है। हालांकि, यहां अब तक 9215 मरीज स्वस्थ होकर अपने घर जा चुके हैं। अब प्रदेश में कोरोना के सक्रिय प्रकरण 2411 हैं।

Dakhal News

Dakhal News 23 June 2020


bhopal,Corona ,Health Minister , home survey, threat ,gas victims

भोपाल। राजधानी भोपाल के गैस पीडि़तों के लिए कोरोना खतरनाक साबित हो रहा है। विशेषज्ञों के अनुसार कोरोना का असर पूर्व से किसी बीमारी से ग्रस्त लोगों पर ज्यादा होता है। वहीं 11 जून की स्थिति में कोरोना से भोपाल में मरने वालों कीद संख्या 60 थी, इनमें 48 (74 फीसदी) गैस पीडि़त थे। जिन्हें पूर्व में ही किसी स्वास्थ्य संबंधी बीमारी थी। यह खुलासा गैस पीडि़त संगठनों ने किया है। गैस पीडि़तों की कोरोना से सबसे ज्यादा हो रही मौतों को स्वास्थ्य मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने गंभीरता से लिया है। उन्होंने विभागीय अधिकारियों को आवश्यक निर्देश दिए है।    गृह एवं स्वास्थ्य मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने मंगलवार को मीडिया से बातचीत करते हुए गैस पीडि़तों की कोरोना से सबसे ज़्यादा मौतें होने पर कहा कि भोपाल में मॉडल बनाकर अगले हफ्ते से घर- घर जा कर सर्वे होगा। साथ ही सभी टीम एक ही दिन में सभी वार्डो में जाकर सर्वे करेगी, यह भी सुनिश्चित किया जाएगा। प्रदेश मेें कोरोना की स्थिति को लेकर मंत्री मिश्रा ने कहा कि मध्यप्रदेश में रिकवरी रेट 76 प्रतिशत है। स्वास्थ्य सेवाओं में लगातार सुधार हो रहा है। कल 175 नए केस आये थे तो 200 से ज़्यादा लोग स्वास्थ्य हो कर घर गए है। पॉजिटिव केस से ठीक होने वालो की संख्या ज़्यादा है। उन्होंने बताया कि प्रदेश में हर दिन 6 से 7 हजार टेस्टिंग की जा रही है।   इसके अलावा डीज़ल पेट्रोल के बढ़ते दामों पर कांग्रेस द्वारा लगाए जा रहे आरोपों का जवाब देते हुए मंत्री नरोत्तम मिश्रा कहा कि कांग्रेस ने अपने घोषणा पत्र में पेट्रोल- डीजल सस्ता करने की बात कही थी। विपक्ष को सवाल पूछने का अधिकार नहीं है। उन्होंने कहा कि शीशे के घर वाले दूसरों के घर पर पत्थर न फेंके।  

Dakhal News

Dakhal News 23 June 2020


bhopal, 523 people , died,corona,MP,  number infected,12147

भोपाल। मध्यप्रदेश में कोरोना संक्रमित मरीजों का रिकवरी रेट 75 फीसदी से अधिक है। इसके बाद भी नये मामलों में कमी नहीं आ रही है। यहां अब चार जिलों में 69 नये मामले सामने आए हैं, जबकि दो लोगों की मौत हुई है। इसके बाद राज्य में संक्रमितों की संख्या 12 हजार 147 हो गई है। वहीं, प्रदेश में कोरोना से अब तक 523 लोगों की मौत हो चुकी है।   इंदौर के मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. प्रवीण जडिय़ा ने मंगलवार को बताया कि एमजीएम मेडिकल कॉलेज द्वारा सोमवार देर रात 1588 सेम्पलों की जांच रिपोर्ट जारी की, जिनमें 54 पॉजिटिव मिले हैं। वहीं, कोरोना से दो लोगों की मौत की भी पुष्टि हुई है। इसके बाद जिले में कोरोना संक्रमित मरीजों की कुल संख्या 4427 है, जबकि मरने वालों की संख्या 203 हो गई है। इसके अलावा धार में नौ, उज्जैन में चार और बालाघाट में दो नये संक्रमित मिले हैं।   इन 69 नये मामलों के बाद अब राज्य में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 12,147 हो गई है। इनमें सबसे अधिक इंदौर में 4427, भोपाल 2527, उज्जैन 848, खंडवा 287, बुरहानपुर 390, जबलपुर 360, खरगौन 263, धार 155, ग्वालियर 292, नीमच 427, मंदसौर 101, सागर 292, मुरैना 172, देवास 205, रायसेन 98, भिंड 150, बड़वानी 80, होशंगाबाद 41, रतलाम 137, रीवा 43, विदिशा 42, बैतूल 46, सतना 24, छतरपुर 53, डिंडौरी 30, दमोह 30, आगरमालवा 16, झाबुआ 15, अशोकनगर 43, शाजापुर 49, सीधी 19, सिंगरौली 15, दतिया 21, शहडोल 16, बालाघाट 20, श्योपुर 64, शिवपुरी 24, टीकमगढ़ 29, छिंदवाड़ा 32, नरिसंहपुर 27, सीहोर 12, उमरिया 10, पन्ना 26, अलीराजपुर 03, अनूपपुर 29, हरदा 25, राजगढ़ 80, गुना 12, मंडला 06, सिवनी 11 निवाड़ी 08 और कटनी 15 मरीज शामिल हैं।    वहीं, इंदौर में हुई दो मौतों के बाद राज्य में कोरोना से मरने वालों की संख्या 523 हो गई है। मृतकों में सबसे अधिक इंदौर के 203, भोपाल 85, उज्जैन 69, बुरहानपुर 23, खंडवा 17, जबलपुर 14, खरगौन 14, ग्वालियर 02, धार 05, मंदसौर 09, नीमच 07, सागर 18, देवास 10, रायसेन 05, होशंगाबाद 03, सतना 02, आगरमालवा 01, झाबुआ 01, अशोकनगर 01, शाजापुर 03, दतिया 01, छिंदवाड़ा 02, सीहोर 02, उमरिया 01, रतलाम 06, बड़वानी 03 मुरैना 01, राजगढ़ 05, श्योपुर 02, टीमकगढ़ 01, रीवा 01, गुना 01, हरदा 01, कटनी 02, सीधी 01 और मंडला का एक व्यक्ति शामिल है। हालांकि, यहां अब तक 9215 मरीज स्वस्थ होकर अपने घर जा चुके हैं। अब प्रदेश में कोरोना के सक्रिय प्रकरण 2411 हैं।

Dakhal News

Dakhal News 23 June 2020


bhopal,Petrol 35 paise, diesel cost ,56 paise ,expensive again

भोपाल। पेट्रोल-डीजल के दामों में वृद्धि लगातार जारी है। इसका असर पूरे देश के साथ-साथ मध्यप्रदेश में भी पड़ा है। राजधानी भोपाल में पेट्रोल में प्रति लीटर 35 पैसे की बढ़ोतरी हुई है। इसी तरह डीजल के दाम में भी वृद्धि हुई है। भोपाल में डीजल की कीमत में प्रति लीटर 56 पैसे की बढ़ोतरी की गई है। पेट्रोल-डीजल के नए रेट रविवार मध्यरात्रि से लागू हो गए हैं।    देश के अन्य शहरों के साथ-साथ भोपाल में भी पेट्रोल-डीजल की कीमतें लगातार 16वें दिन बढ़ी।  राजधानी में इसी महीने 6 जून को पेट्रोल जहां 77.56 रुपये प्रति लीटर और डीजल 68.27 रुपये प्रति लीटर बिक रहा था,  वहीं  22 जून तक तेल के दाम में लगभग 10 रुपये की बढ़ोतरी देखी जा रही है। दरअसल, 16 मार्च से लेकर 6 जून तक सरकार ने लॉकडाउन के कारण पेट्रोल और डीजल के दाम नहीं बढ़ाए थे, लेकिन लॉकडाउन खत्म होते ही अब ईंधन के दाम लगातार बढ़ रहे हैं।  इस कारण मध्य प्रदेश में पेट्रोल और डीजल के दाम आसमान छूते दिख रहे हैं। ताजा वृद्धि के बाद रविवार मध्यरात्रि से राजधानी में पेट्रोल के दाम अब प्रति लीटर 87.19 रुपये हो गये हैं। वहीं, शहर में डीजल की कीमत प्रति लीटर 78.35 रुपये हो गई है।   बढ़ेगी महंगाई  इससे पहले राज्य सरकार ने भी पेट्रोल और डीजल पर अतिरिक्त टैक्स लगाते हुए एक-एक रुपये का इजाफा किया था।  पेट्रोल और डीजल के दाम में लगातार हो रही बढ़ोतरी के बाद अब मध्यप्रदेश में जरूरी वस्तुओं की सप्लाई पर भी इसका असर पड़ना तय माना जा रहा है। मध्यप्रदेश में जरूरी चीजों की सप्लाई से जुड़े कारोबारियों का कहना है कि डीजल के दाम बढ़ने का असर ट्रांसपोर्ट सेवाओं और जरूरी सामान की सप्लाई पर निश्चित रूप से पड़ेगा।

Dakhal News

Dakhal News 22 June 2020


bhopal,Petrol 35 paise, diesel cost ,56 paise ,expensive again

भोपाल। पेट्रोल-डीजल के दामों में वृद्धि लगातार जारी है। इसका असर पूरे देश के साथ-साथ मध्यप्रदेश में भी पड़ा है। राजधानी भोपाल में पेट्रोल में प्रति लीटर 35 पैसे की बढ़ोतरी हुई है। इसी तरह डीजल के दाम में भी वृद्धि हुई है। भोपाल में डीजल की कीमत में प्रति लीटर 56 पैसे की बढ़ोतरी की गई है। पेट्रोल-डीजल के नए रेट रविवार मध्यरात्रि से लागू हो गए हैं।    देश के अन्य शहरों के साथ-साथ भोपाल में भी पेट्रोल-डीजल की कीमतें लगातार 16वें दिन बढ़ी।  राजधानी में इसी महीने 6 जून को पेट्रोल जहां 77.56 रुपये प्रति लीटर और डीजल 68.27 रुपये प्रति लीटर बिक रहा था,  वहीं  22 जून तक तेल के दाम में लगभग 10 रुपये की बढ़ोतरी देखी जा रही है। दरअसल, 16 मार्च से लेकर 6 जून तक सरकार ने लॉकडाउन के कारण पेट्रोल और डीजल के दाम नहीं बढ़ाए थे, लेकिन लॉकडाउन खत्म होते ही अब ईंधन के दाम लगातार बढ़ रहे हैं।  इस कारण मध्य प्रदेश में पेट्रोल और डीजल के दाम आसमान छूते दिख रहे हैं। ताजा वृद्धि के बाद रविवार मध्यरात्रि से राजधानी में पेट्रोल के दाम अब प्रति लीटर 87.19 रुपये हो गये हैं। वहीं, शहर में डीजल की कीमत प्रति लीटर 78.35 रुपये हो गई है।   बढ़ेगी महंगाई  इससे पहले राज्य सरकार ने भी पेट्रोल और डीजल पर अतिरिक्त टैक्स लगाते हुए एक-एक रुपये का इजाफा किया था।  पेट्रोल और डीजल के दाम में लगातार हो रही बढ़ोतरी के बाद अब मध्यप्रदेश में जरूरी वस्तुओं की सप्लाई पर भी इसका असर पड़ना तय माना जा रहा है। मध्यप्रदेश में जरूरी चीजों की सप्लाई से जुड़े कारोबारियों का कहना है कि डीजल के दाम बढ़ने का असर ट्रांसपोर्ट सेवाओं और जरूरी सामान की सप्लाई पर निश्चित रूप से पड़ेगा।

Dakhal News

Dakhal News 22 June 2020


bhopal,MP Shankar Lalwani, distributed masks , Prime Minister , photo

इंदौर। कोरोना संकट के दौरान भाजपा और कांग्रेस दोनों ही पार्टियां मास्क, सैनिटाइजर का वितरण कर लोगों को संक्रमण से बचाने के लिए अभियान चला रही हैं। हालांकि ये पार्टियां इन कार्यक्रमों का राजनीतिक फायदा उठाने से भी नहीं चूक रही हैं। ऐसा ही एक कार्यक्रम सोमवार को शहर के राजबाड़ा पर भाजपा द्वारा आयोजित किया गया। इस कार्यक्रम में सांसद ने जो निशुल्क मास्क वितरित किए, उनमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और खुद सांसद शंकर लालवानी के फोटो छपे हुए थे।   सांसद शंकर लालवानी ने सोमवार को राजबाड़ा पर आयोजित एक कार्यक्रम में लोगों को मास्क और सैनिटाइजर का वितरण किया। इस दौरान लोगों को जो मास्क बांटे गए, उन पर प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी, मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान एवं स्वयं सांसद शंकर लालवानी के फोटो थे। सांसद शंकर लालवानी ने इसके लिए कार्यक्रम आयोजित करने वाली संस्था की सोच को जिम्मेदार बताया है। उन्होंने कहा कि केंद्र की मोदी सरकार द्वारा कोरोना को लेकर उठाए गए कदमों से प्रभावित होकर संस्था ने प्रधानमंत्री मोदी, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के फोटो वाले मास्क बनाए हैं। उनका मानना है कि सरकार के इस जागरूकता के कदम को जन-जन तक पहुंचाना है। इसलिए उन्होंने पहले कदम के तौर पर इस प्रकार के 10 हजार मास्क बनाए हैं, जिन्हें राजबाड़ा से बांटने का काम शुरू किया गया है। गरीब बस्तियों में जहां लोग मास्क नहीं खरीद पा रहे हैं, उन जगहों पर मास्क का वितरण किया जाएगा।

Dakhal News

Dakhal News 22 June 2020


bhopal, Chief Minister , committed , provide cheap electricity

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि गरीबों एवं निम्न आय वर्ग के उपभोक्ताओं को सस्ती बिजली दिलवाने के लिए सरकार प्रतिबद्ध है। कोरोना काल में सरकार बिजली उपभोक्ताओं को बड़ी राहत दे रही है। प्रदेश के लगभग 95 लाख बिजली उपभोक्ताओं को 623 करोड़ रूपये का लाभ दिया जा रहा है। मुख्यमंत्री ने भोपाल से वेब लिंकिंग के माध्यम से प्रदेश के 10 लाख से अधिक घरेलू, कृषि, उद्योग बिजली उपभोक्ताओं को संबोधित किया साथ ही वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से कुछ उपभोक्ताओं से बातचीत की।   100 रूपये का बिल आने पर 50 रूपये भुगतान मुख्यमंत्री ने कहा कि मार्च 2020 के ऐसे उपभोक्ता जो संबल योजना में शामिल हैं, जिनके बिल अप्रैल माह में 100 रूपये तक आये हैं, उन उपभोक्ताओं को आगामी 3 माहों में 100 रूपये तक बिल आने पर 50 रूपये ही बिल का भुगतान करना होगा। इस व्यवस्था के अंतर्गत लगभग 30 लाख 68 हजार उपभोक्ता लाभान्वित होंगे तथा लगभग 46 करोड़ रूपये की राशि का लाभ उपभोक्ताओं को मिल सकेगा।   400 रूपये तक के बिल पर 100 रूपये का भुगतान मुख्यमंत्री ने कहा कि ऐसे उपभोक्ता जिन्हें माह अप्रैल में 100 रूपये का बिल आया था किन्तु माह मई, जून एवं जुलाई में 100 से 400 रूपये के मध्य बिल आया है तो मात्र 100 रूपये ही बिल का भुगतान करना होगा। इस तरह लगभग 56 लाख उपभोक्ताओं को लगभग 255 करोड़ रूपये की राहत उपलब्ध करायी जायेगी। 400 रूपये से अधिक बिल पर आधा भुगतान ऐसे उपभोक्ता जिनका बिल अप्रैल माह में 100 से 400 रूपये के मध्य आया था तथा माह मई, जून एवं जुलाई में 400 रूपये से अधिक आता है तो, ऐसे उपभोक्ता को बिल की आधी राशि का भुगतान करना होगा। शेष राशि के भुगतान के संबंध में बिलों की जाँच करने के उपरांत आगामी निर्णय लिया जायेगा। इसमें भी लगभग 183 करोड़ रूपये का लाभ उपभोक्ताओं को मिलेगा। बिजली कर्मियों की सराहना की मुख्यमंत्री ने कहा कि लॉकडाउन के समय में जब आप सभी लोग अपने घरों में थे, तब हमारे बिजली विभाग के अधिकारियों/कर्मचारियों ने लगातार बिना रूके आपके घरों में बिजली सप्लाई चालू रखी। आंधी बारिश के समय भी सभी विद्युतकर्मी आपकी सेवा में तत्पर हैं। वाकई ये हमारे कोरोना योद्धा है। इनका कार्य प्रशंसनीय है। कृषि के लिए 10 घंटे व घर के लिए 24 घंटे बिजली मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार प्रदेश में कृषि कार्य के लिए 10 घंटे एवं घरेलू उपभोक्ताओं को 24 घंटे बिजली उपलब्ध करा रही है। बिजली उपभोक्ताओं से की बातचीत मुख्यमंत्री ने वी.सी. के माध्यम से अनूपपुर जिले के अनूपपुर वितरण केन्द्र के घरेलू उपभोक्ता  मनीष पनिका, सागर जिले के सुरखी वितरण केन्द्र के घरेलू उपभोक्ता नर्मदा सिंह ठाकुर, ग्वालियर शहर के लक्ष्मीगंज वितरण केन्द्र की घरेलू उपभोक्ता अनिता कुशवाह, अशोकनगर जिले के अशोकनगर वितरण केन्द्र के  घरेलू उपभोक्ता नारायण सिंह, मुरैना जिले के जौरा वितरण केन्द्र के घरेलू उपभोक्ता श्री संतोष यादव, धार जिले के कानवन वितरण केन्द्र के घरेलू उपभोक्ता कपिल रामेश्वर, मंदसौर जिले के सुवासरा वितरण केन्द्र के घरेलू उपभोक्ता नंदलाल प्रभुलाल, इंदौर जिले के धरमपुरी वितरण केन्द्र के उद्योग उपभोक्ता श्री अनिल जैन आदि से बातचीत की। सभी ने बिजली बिलों में राहत देने पर मुख्यमंत्री को हार्दिक धन्यवाद दिया।

Dakhal News

Dakhal News 22 June 2020


bhopal, Number of MP, Corona infected ,11820,505  died

भोपाल। मध्यप्रदेश में कोरोना संक्रमित मरीज तेजी से स्वस्थ हो रहे हैं। यहां रिकवरी रेट 75 फीसदी से अधिक पहुंच गया है। इसके बावजूद नये मामलों में कमी नहीं आ रही है। यहां अब पांच जिलों में 96 नये मामले सामने आए हैं, जबकि चार लोगों की मौत हुई है। इसके बाद राज्य में संक्रमितों की संख्या 11 हजार 820 हो गई है। वहीं, प्रदेश में कोरोना से अब तक 505 लोगों की मौत हो चुकी है।    इंदौर के मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. एमपी शर्मा ने रविवार को बताया कि एमजीएम मेडिकल कॉलेज द्वारा शनिवार देर रात 1788 सेम्पलों की जांच रिपोर्ट जारी की, जिनमें 41 नये पॉजिटिव मिले हैं। इसके बाद यहां संक्रमित मरीजों की संख्या 4329 हो गई है। वहीं, इंदौर में कोरोना से चार लोगों की मौत की भी पुष्टि हुई है। अब यहां मृतकों की संख्या 197 तक पहुंच गई है। इधर, भोपाल सीएमएचओ डॉ. प्रभाकर तिवारी के अनुसार, रविवार सुबह आई 940 सेम्पलों की जांच रिपोर्ट में 34 नये पॉजिटिव मिले हैं। इसके अलावा, राजगढ़ में 11, देवास में सात और उज्जैन में तीन नये मामले सामने आए हैं।   इन 96 नये मामलों के साथ राज्य में संक्रमित मरीजों की कुल संख्या 11,820 हो गई है। इनमें सबसे अधिक इंदौर में 4329, भोपाल 2491, उज्जैन 838, खंडवा 284, बुरहानपुर 389, जबलपुर 335, खरगौन 240, धार 143, ग्वालियर 286, नीमच 416, मंदसौर 101, सागर 281, मुरैना 157, देवास 205, रायसेन 91, भिंड 138, बड़वानी 76, होशंगाबाद 41, रतलाम 133, रीवा 42, विदिशा 42, बैतूल 43, सतना 24, छतरपुर 49, डिंडौरी 30, दमोह 29, आगरमालवा 16, झाबुआ 15, अशोकनगर 42, शाजापुर 48, सीधी 17, सिंगरौली 13, दतिया 21, शहडोल 16, बालाघाट 17, श्योपुर 63, शिवपुरी 22, टीकमगढ़ 22, छिंदवाड़ा 31, नरिसंहपुर 26, सीहोर 11, उमरिया 10, पन्ना 26, अलीराजपुर 03, अनूपपुर 29, हरदा 24, राजगढ़ 73, गुना 12, मंडला 05, सिवनी 04 निवाड़ी 07 और कटनी 14 मरीज शामिल हैं।    इंदौर में हुई चार मौतों के बाद राज्य में कोरोना से मरने वालों की संख्या 504 हो गई है। मृतकों में सबसे अधिक इंदौर के 197, भोपाल 78, उज्जैन 67, बुरहानपुर 23, खंडवा 17, जबलपुर 12, खरगौन 14, ग्वालियर 02, धार 05, मंदसौर 09, नीमच 07, सागर 18, देवास 10, रायसेन 05, होशंगाबाद 03, सतना 02, आगरमालवा 01, झाबुआ 01, अशोकनगर 01, शाजापुर 03, दतिया 01, छिंदवाड़ा 02, सीहोर 02, उमरिया 01, रतलाम 06, बड़वानी 03 मुरैना 01, राजगढ़ 05, श्योपुर 02, टीमकगढ़ 01, रीवा 01, गुना 01, हरदा 01, कटनी 01 और मंडला का एक व्यक्ति शामिल है। हालांकि, राज्य में अब तक 8880 पूरी तरह स्वस्थ होकर अपने घर पहुंच चुके हैं। अब प्रदेश में कोरोना के सक्रिय प्रकरण 2439 हैं।

Dakhal News

Dakhal News 21 June 2020


bhopal, Chief Minister Shivra, yoga with family, most effective means, staying healthy

भोपाल। अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर रविवार को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भोपाल स्थित अपने निवास पर परिजनों के साथ योगासन किया। इस दौरान उन्होंने योग की विभिन्न आसन किये। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि योगासन निरोग और स्वस्थ रहने का सबसे प्रभावी माध्यम है। वहीं, प्रदेशभर में योग दिवस पर लोगों ने अपने घरों में रहकर योग किया।    मुख्यमंत्री ने नागरिकों को संदेश देते हुए कहा कि विश्व योग दिवस पर प्रधानमंत्री ने इस बार की थीम दी है, 'घर पर योग, परिवार के साथ योग।' उन्होंने भी इसका पालन किया है और अपने परिजनों के साथ योग किया। उन्होंने कहा कि निरोग रहने का सबसे प्रभावी माध्यम योग ही है। यह वह विधा है, जो वर्षों के अनुसंधान के बाद हमारे महाऋषियों, योग गुरुओं ने हमें ही नहीं, विश्व को दी है।    मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रसन्नता का विषय है कि आज सारी दुनिया निरोग रहने के लिए योग की तरफ आ रही है, ऐसे में हम अपने देश को स्वस्थ रखने के लिए निरोग रखने के लिए सिर्फ एक दिन नहीं, बल्कि प्रतिदिन योग करें। उन्होंने कहा कि यम, नियम, आसन, प्राणायाम, प्रत्याहार, ध्यान ,धारणा, समाधि अष्टांग योग के अलग-अलग चरण हैं, लेकिन हम कम से कम यम नियम, आसन और प्राणायाम के योग जरूर करें। अपने जीवन में योग से कोई भी व्यक्ति अद्भुत परिवर्तन का अनुभव कर सकता है। योग के जरिए व्यक्ति शक्ति से, ऊर्जा से और सकारात्मकता से भर जाएगा। आज सभी व्यक्तियों को प्रतिदिन योग करने का संकल्प लेना चाहिए।   दरअसल, विश्व योग दिवस के अवसर पर कोरोना संक्रमण के चलते सामूहिक योग कार्यक्रम आयोजित नहीं किये गये और शासन-प्रशासन द्वारा सभी से घर में रहकर योग करने की अपील की गई थी। इसी का पालन करते हुए रविवार को प्रदेशवासियों ने अपने-अपने घरों में ही योग किया। इस दौरान ऑनलाइन योगा कार्यक्रम का भी आयोजन भी हुआ। योग दिवस पर अधिकारी और जनप्रतिनिधियों ने भी अपने घरों में योग किया।

Dakhal News

Dakhal News 21 June 2020


bhopal, Chief Minister Shivra, yoga with family, most effective means, staying healthy

भोपाल। अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर रविवार को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भोपाल स्थित अपने निवास पर परिजनों के साथ योगासन किया। इस दौरान उन्होंने योग की विभिन्न आसन किये। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि योगासन निरोग और स्वस्थ रहने का सबसे प्रभावी माध्यम है। वहीं, प्रदेशभर में योग दिवस पर लोगों ने अपने घरों में रहकर योग किया।    मुख्यमंत्री ने नागरिकों को संदेश देते हुए कहा कि विश्व योग दिवस पर प्रधानमंत्री ने इस बार की थीम दी है, 'घर पर योग, परिवार के साथ योग।' उन्होंने भी इसका पालन किया है और अपने परिजनों के साथ योग किया। उन्होंने कहा कि निरोग रहने का सबसे प्रभावी माध्यम योग ही है। यह वह विधा है, जो वर्षों के अनुसंधान के बाद हमारे महाऋषियों, योग गुरुओं ने हमें ही नहीं, विश्व को दी है।    मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रसन्नता का विषय है कि आज सारी दुनिया निरोग रहने के लिए योग की तरफ आ रही है, ऐसे में हम अपने देश को स्वस्थ रखने के लिए निरोग रखने के लिए सिर्फ एक दिन नहीं, बल्कि प्रतिदिन योग करें। उन्होंने कहा कि यम, नियम, आसन, प्राणायाम, प्रत्याहार, ध्यान ,धारणा, समाधि अष्टांग योग के अलग-अलग चरण हैं, लेकिन हम कम से कम यम नियम, आसन और प्राणायाम के योग जरूर करें। अपने जीवन में योग से कोई भी व्यक्ति अद्भुत परिवर्तन का अनुभव कर सकता है। योग के जरिए व्यक्ति शक्ति से, ऊर्जा से और सकारात्मकता से भर जाएगा। आज सभी व्यक्तियों को प्रतिदिन योग करने का संकल्प लेना चाहिए।   दरअसल, विश्व योग दिवस के अवसर पर कोरोना संक्रमण के चलते सामूहिक योग कार्यक्रम आयोजित नहीं किये गये और शासन-प्रशासन द्वारा सभी से घर में रहकर योग करने की अपील की गई थी। इसी का पालन करते हुए रविवार को प्रदेशवासियों ने अपने-अपने घरों में ही योग किया। इस दौरान ऑनलाइन योगा कार्यक्रम का भी आयोजन भी हुआ। योग दिवस पर अधिकारी और जनप्रतिनिधियों ने भी अपने घरों में योग किया।

Dakhal News

Dakhal News 21 June 2020


bhopal,Congress claims, many big leaders of BJP , contact , former CM, Kamal Nath

ग्वालियर। मध्यप्रदेश में विधानसभा की 24 रिक्त सीटों पर आगामी दिनों में होने वाले उपचुनावों को लेकर राजनीतिक सरगर्मियां तेज हो गई हैं और दोनों प्रमुख दल भाजपा और कांग्रेस के नेता एक-दूसरे पर आरोप प्रत्यारोप लगा रहे हैं। वहीं, दलबदलू नेता एक दल छोड़कर दूसरे दल का दामन थाम रहे हैं। इसी बीच कांग्रेस ने दावा किया है कि ग्वालियर-चम्बल संभाग के भाजपा के कई बड़े नेता पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ के सम्पर्क में हैं।    कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और ग्वालियर-चम्बल संभाग के मीडिया प्रभारी केके मिश्रा ने शनिवार को मीडिया से बातचीत में कहा कि कांग्रेस नेता केके मिश्रा ने कहा कि जो भाजपा का मानना है कि कांग्रेस नेतृत्व बहुत कमजोर है, जिसका फायदा भाजपा को मिल रहा है। भाजपा कल तक कांग्रेस मुक्त भारत की बात करती थी, लेकिन अब उस पार्टी में अंतरकलह बढ़ गई है। अब लोग भाजपा व अन्य पार्टियां छोडक़र कांग्रेस में आ रहे हैं। अभी भाजपा के कई बड़े नेता पूर्व सीएम कमलनाथ के सम्पर्क में हैं और वे एक-एक करके कांग्रेस में आएंगे। हालांकि, उन्होंने यह भी कहा कि जब कोई व्यक्ति पार्टी छोड़कर जाता है तो दुख तो होता है, लेकिन जनता सब जानती है कि राष्ट्र हित की बात करने वाली कौन सी पार्टी है।    बता दें कि पूर्व केन्द्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया के भाजपा में शामिल होने के बाद उनके समर्थक 22 विधायकों ने भी भाजपा की सदस्यता ले ली थी। इनमें से अधिकांश ग्वालियर-चम्बल संभाग के ही थे। विधानसभा की सदस्यता से इस्तीफा देने के बाद इसी क्षेत्र की सीटें रिक्त हुई हैं, जहां उपचुनाव होना है। ऐसे में इन दिनों ग्वालियर-चम्बल संभाग उपचुनाव के रंग में रंगा हुआ है। 

Dakhal News

Dakhal News 20 June 2020


bhopal,Death toll , corona , Madhya Pradesh , 500

भोपाल। मध्य प्रदेश में कोरोना मरीजों का रिकवरी रेट 73 फीसदी से अधिक होने के बाद भी नये मामलों में कमी नहीं आ रही है। शनिवार को प्रदेश के पांच जिलों में 95 नये मामले सामने आए हैं, जबकि पांच लोगों की मौत हुई है। इसके बाद राज्य में संक्रमितों की संख्या जहां 11,677 हो गई है, वहीं कोरोना से मरने वालों की संख्या 500 पहुंच गई है।   इंदौर के मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. एमपी शर्मा ने शनिवार को बताया कि एमजीएम मेडिकल कॉलेज द्वारा शुक्रवार देर रात 1768 सेम्पलों की जांच रिपोर्ट जारी की गई, जिनमें 42 पॉजिटिव मिले हैं। इसके बाद जिले में संक्रमित मरीजों की संख्या 4288 हो गई है। वहीं, इंदौर में कोरोना से चार लोगों की मौत की भी पुष्टि हुई है। मृतकों में एक 63 वर्षीय महिला के साथ 61, 67 और 69 वर्षीय तीन पुरुष शामिल हैं। अब इंदौर में कोरोना से मरने वालों की संख्या 193 हो गई है।   इधर, भोपाल सीएमएचओ डॉ. प्रभाकर तिवारी के मुताबिक, राजधानी में शनिवार सुबह कोरोना के 47 नये मामले सामने आए हैं। इनमें एक भाजपा विधायक और उनकी पत्नी, बंगरसिया सीआरपीएफ कैंपस के तीन जवान, जीएमसी की एक महिला डॉक्टर भी शामिल है। उनकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। वहीं, शुक्रवार शाम को भोपाल के कॉलेज की 56 वर्षीय महिला प्रोफेसर की कोरोना से मौत हुई है। इसके अलावा कटनी में दो, नीमच में दो और बालाघाट में दो संक्रमित मरीज मिले हैं।   इन नये 95 मामलों के साथ अब मध्य प्रदेश में संक्रमित मरीजों की कुल संख्या 11,677 हो गई है। इनमें सबसे अधिक इंदौर में 4288, भोपाल 2484, उज्जैन 831, खंडवा 283, बुरहानपुर 388, जबलपुर 329, खरगौन 239, धार 143, ग्वालियर 278, नीमच 416, मंदसौर 101, सागर 278, मुरैना 152, देवास 184, रायसेन 85, भिंड 132, बड़वानी 76, होशंगाबाद 41, रतलाम 130, रीवा 41, विदिशा 40, बैतूल 40, सतना 23, छतरपुर 48, डिंडौरी 30, दमोह 29, आगरमालवा 16, झाबुआ 15, अशोकनगर 42, शाजापुर 48, सीधी 17, सिंगरौली 12, दतिया 21, शहडोल 16, बालाघाट 17, श्योपुर 62, शिवपुरी 22, टीकमगढ़ 22, छिंदवाड़ा 31, नरिसंहपुर 22, सीहोर 11, उमरिया 10, पन्ना 25, अलीराजपुर 03, अनूपपुर 29, हरदा 23, राजगढ़ 62, गुना 12, मंडला 05, सिवनी 04 निवाड़ी 07 और कटनी 14 मरीज शामिल हैं।    वहीं, इंदौर में चार और भोपाल में हुई एक मौत के बाद राज्य में कोरोना से मरने वालों की संख्या 495 से बढक़र 500 हो गई है। मृतकों में सबसे अधिक इंदौर के 193, भोपाल 78, उज्जैन 67, बुरहानपुर 23, खंडवा 17, जबलपुर 12, खरगौन 14, ग्वालियर 02, धार 05, मंदसौर 09, नीमच 07, सागर 18, देवास 10, रायसेन 05, होशंगाबाद 03, सतना 02, आगरमालवा 01, झाबुआ 01, अशोकनगर 01, शाजापुर 03, दतिया 01, छिंदवाड़ा 02, सीहोर 02, उमरिया 01, रतलाम 06, बड़वानी 03 मुरैना 01, राजगढ़ 05, श्योपुर 02, टीमकगढ़ 01, रीवा 01, गुना 01, कटनी 01 और मंडला का एक व्यक्ति शामिल है। हालांकि, यहां अब तक 8748 मरीज स्वस्थ होकर अपने घर जा चुके हैं। अब प्रदेश में कोरोना के सक्रिय प्रकरण 2434 हैं।  

Dakhal News

Dakhal News 20 June 2020


bhopal,BJP leaders ,came  contact , Corona-infected MLA

भोपाल, 20 जून (हि.स.)। मध्यप्रदेश में कोरोना संक्रमण के मामले लगातार तेजी से बढ़ते जा रहे हैं। राजनेता भी इस संक्रमण से खुद को बचा नहीं पा रहे हैं। कांग्रेस विधायक कुणाल चौधरी के बाद अब भाजपा विधायक कोरोना पॉजिटिव मिले हैं। नीमच जिले की जावद विधानसभा सीट से भाजपा विधायक ओमप्रकाश सकलेचा के और उनकी पत्नी की शनिवार को रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई है। शुक्रवार को विधानसभा में राज्यसभा चुनाव के दौरान भाजपा विधायक ओमप्रकाश सकले ने भी मतदान किया था। इस दौरान वे वहां मौजूद सभी लोगों के संपर्क में आए थे।    भाजपा विधायक के कोरोना पॉजिटव होने की खबर मिलते ही सभी विधायकों में हडक़ंप मच गया है। शनिवार सुबह कुछ विधायक भोपाल स्थित जेपी अस्पताल में अपनी जांच कराने पहुंचे। चारों विधायक सकलेचा के संपर्क में आए थे। भाजपा विधायक के कोरोना पॉजिटिव होने की खबर मिलतेे ही विधायक यशपाल सिंह सिसोदिया, देवी सिंह धाकड़ और दिलीप मकवाना, नीमच विधायक दिलीप सिंह परिहार जांच कराने जेपी अस्पताल पहुंचे हैं। यहां विधायकों ने मीडिया से बातचीत करते हुए बताया कि उनके साथी ओमप्रकाश सकलेचा कोरोना वायरस पॉजिटिव पाए गए हैं। इस वजह से वह एहतियातन जांच कराने पहुंचे हैं। बताया जा रहा है कि अब मध्यप्रदेश के ज्यादातर विधायक अपना कोरोना टेस्ट कराएंगे। बता दें कि मध्यप्रदेश में अब तक दो विधायक कोरोना पॉजिटव हो चुके हैं। इससे पहले कांग्रेस विधायक कुणाल चौधरी में कोरोना संक्रमण मिला है। उन्होंने पीपीई किट पहनकर राज्यसभा चुनाव के लिए वोटिंग की थी। कुणाल चौधरी की वोटिंग के बाद मतदान स्थल को सैनेटाइज किया गया था।

Dakhal News

Dakhal News 20 June 2020


bhopal,Rajya Sabha Election, CM Shivraj , first vote ,confident of winning

भोपाल। मप्र में रिक्त राज्यसभा की तीन सीटों के लिए मतदान संपन्न हो गए है। शाम पांच बजे से मतों गिनती शुरू होगी। देर शाम तक राज्यसभा चुनाव के परिणाम आ जाऐंगे। इस बार राज्यसभा चुनाव में वोटिंग के लिए कोरोना संक्रमण को देखते हुए तीन जगह स्वास्थ्य की जांच की व्यवस्था की गई है। पहली बार सेंट्रल हॉल में मतदान संपन्न हो रहा है। मतदान डालने पहुंच रहे विधायकों को विधानसभा के गेट पर थर्मल सक्रीनिंग के बाद प्रतीक्षाकक्ष में बैठाया जा रहा है। यहां उनसे लिखित में उनकी और परिवार के स्वास्थ्य के बारे में जानकारी ली जा रही है। दोनों ही दलों को क्रॉस वोटिंग का डर है। विधायकों के आंकड़ों के हिसाब से मध्यप्रदेश की 3 सीटों में से 2 पर भाजपा की जीत पक्की मानी जा रही है।    एक-एक कर विधायक मतदान केंद्र में आ रहे हैं और वोट डाल रहे है। सबसे पहला वोट सीएम शिवराज सिंह चौहान ने डाला है। उन्होंने वोट डालने के बाद सीएम शिवराज ने कहा है कि वे जीते के लिए आश्वस्त है। उन्होंने ट्वीट कर कहा कि ‘यतो धर्म: ततो जय:। आज विधानसभा पहुंचकर राज्यसभा निर्वाचन के लिए मताधिकार का प्रयोग किया। हम सब विजय के प्रति आश्वस्त हैं।    गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने भी विधानसभा पहुंचकर मतदान किया। उन्होंने भी राज्यसभा चुनाव में जीत का दावा किया है। गृहमंत्री ने ट्वीट कर कहा ‘जहाँ सच हैं, वहाँ पर हम खड़े हैं, इसी खातिर आँखों में गड़े हैं। राज्यसभा चुनावों में @BJPyIndia को सभी का साथ मिल चुका है। सब साथ हैं, मोदी-शाह पर विश्वास है, @BJPyMP के नेतृत्व में मप्र का हो रहा विकास है। माननीय @JM_Scindia और माननीय प्रो.सुमेर सिंह सोलंकी की जीत सुनिश्चित है।   चुनाव में ज्योतिरादित्य सिंधिया और सुमेर सिंह सौलंकी भाजपा प्रत्याशी है। कांग्रेस से दिग्विजय सिंह और फूल सिंह बरैया मैदान में हैं। विधानसभा के कुल 230 सदस्य हैं। विधानसभा में 206 सदस्य मौजूद हैं। 24 सीट रिक्त,दो निधन, 22 त्यागपत्र शामिल हैं। इनमें 107 भाजपा विधायक 92 कांग्रेस विधायक 02 बसपा 01 सपा 04 निर्दलीय शामिल हैं।

Dakhal News

Dakhal News 19 June 2020


bhopal,Congress MLA, arrives to vote ,wearing PPE kit, BJP objected

भोपाल। मध्यप्रदेश से राज्यसभा के लिये रिक्त हुए तीन स्थानों लिए वोटिंग पूरी हो गई है। आखिरी वोट कांग्रेस विधायक कुणाल चौधरी ने डाला। कुणाल चौधरी कोरोना पॉजिटिव होने की वजह से पीपीई किट में मतदान करने पहुंचे। उनका वोट अलग से लिफाफे में रखा गया है। मतगणना शाम पांच बजे से शुरू होगी और 6 बजे तक परिणाम घोषित कर दिए जाएंगे।    कुणाल चौधरी के विधानसभा पहुंचकर मतदान डालने पर भाजपा नेता और पूर्व नागरिक आपूर्ति निगम के अध्यक्ष हितेष वाजपेयी ने आपित्त जताई है।  हितेष वाजपेयी ने शुक्रवार को मीडिया को जारी अपने एक बयान में कहा है कि चुनाव आयोग द्वारा कोरोना पॉजिटिव विधायक को परिसर में प्रवेश की अनुमति महामारी नियंत्रण नियमों का उल्लंघन है और परिसर को कंटेमिनेट करने का आयोग को कोई अधिकार नहीं है। उन्होंने कहा कि यह आयोग द्वारा की जा रही अवैध गतिविधि है, जो चिंताजनक है जबकि बीमारी फैलाना अपराध की श्रेणी में आता है। हितेष वाजपेयी ने मांग करते हुए कहा है कि प्रशासन को इसे रोकना चाहिए।     बतातें चले कि राज्यसभा के लिए भाजपा ने सिंधिया और सुमेर सिंह को उम्मीदवार बनाया हैं। जबकि कांग्रेस से दिग्विजय और फूल सिंह प्रत्याशी हैं। दिग्विजय को पहली वरीयता देने के निर्देश दिए गए हैं। विधायकों के आंकड़ों के हिसाब से मध्यप्रदेश की 3 सीटों में से 2 पर भाजपा की जीत पक्की मानी जा रही है। 

Dakhal News

Dakhal News 19 June 2020


bhopal, Congress insults Dalits, suffer by-election results ,Narottam Mishra

भोपाल। मध्य प्रदेश की तीन रिक्त राज्यसभा सीटों के लिए आज वोट डाले गए। विधायकों के आंकड़ों के हिसाब से मध्यप्रदेश की 3 सीटों में से 2 पर भाजपा की जीत पक्की मानी जा रही है। कांग्रेस की तरफ से दिग्विजय को पहली वरीयता देने के निर्देश दिए गए हैं। इससे पहले भी कांग्रेस राज्यसभा चुनाव में चौंकाने वाले परिणाम आने का दावा कर चुकी है। कांग्रेस के दावों पर प्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कांग्रेस की तरफ से भाजपा प्रत्याशी को वोट डालने  के संकेत देने के साथ ही फूल सिंह बरैया की बजाय दिग्विजय सिंह को वरीयता दिए जाने को दलित को अपमान बताया है।    गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने मीडिया से बातचीत करते हुए फूल सिंह बरैया की बजाय दिग्विजय सिंह को प्राथमिकता दिए जाने पर कांग्रेस पर बड़ा हमला बोला है। उन्होंने कहा है कि कांग्रेस ने दलितों का अपमान किया है और उसे इसका परिणाम उपचुनाव में भुगतना पड़ेगा। मैं अभी भी प्रार्थना करुंगा कि कांग्रेस के पास अभी वक्त है अनुसूचित जाति के व्यक्ति को भेजना चाहिए। उन्होंने कहा कि ग्वालियर चंबल में 16 सीट पर चुनाव है और इन पर बड़े मतदाता है और अगर इस तरह एक अनुसूचित जाति के व्यक्ति का अपमान नहीं किया जाना चाहिए। हारने के लिए क्यों लड़ाया जब आपकों पता था कि आपके पास वोट नहीं है तो नहीं लड़ाना चाहिए था। गृहमंत्री मिश्रा ने दिग्विजय सिंह पर तंज कसते हुए कहा कि राजा को बड़ा दिल दिखाना चाहिए था, वह तो कई बड़े पदों पर रह चुके है अब उन्हें सीट छोडक़र बरैया को सम्मान देना चाहिए। अगर दिग्विजयसिंह ऐसा करते तो हम भी उनका सम्मान करते।    कांग्रेस की तरफ से भाजपा को वोट मिलने के दिए संकेत.   इस दौरान गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने बड़ा बयान देते हुए राज्यसभा में कांग्रेस की तरफ से भाजपा को वोट मिलने के संकेत दिए। उन्होंने कहा कि हमारे हर  प्रत्याशी को 53- 54 वोट मिले है, हो सकता है एक- दो ज्यादा वोट मिल जाए। वहीं पूर्व सीएम कमलनाथ द्वारा बस में कांग्रेस विधायकों को एक साथ लाए जाने पर मन्त्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि कांग्रेस को अपने विधायकों पर भरोसा नहीं है। यही कारण है कि उनके विधायकों ने सरकार पर विश्वास नहीं किया। 

Dakhal News

Dakhal News 19 June 2020


bhopal,Congress Legislature ,Party meeting,second day, gave training, vote

भोपाल। मध्यप्रदेश के राज्यसभा के लिए रिक्त तीन सीटों के निर्वाचन के लिए शुक्रवार, 19 जून को मतदान होगा। इसकी तैयारियों को लेकर गुरुवार को दूसरे दिन भी कांग्रेस विधायक दल की बैठक हुई, जिसमें मतदान को लेकर प्रशिक्षण दिया गया। पूर्व मुख्यमंत्री और प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ के निवास पर हुई इस बैठक में पार्टी के सभी विधायक शामिल हुए। बैठक में आज वे विधायक भी मौजूद रहे, जो बुधवार की बैठक में पारिवारिक कारणों से अनुमति लेकर अनुपस्थित थे। बैठक में सभी विधायकों को मतदान को लेकर प्रशिक्षण दिया गया।    बता दें कि पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव और प्रदेश प्रभारी मुकुल वासनिक की मौजूदगी में बुधवार को भी कांग्रेस विधायक दल की बैठक हुई थी, जिसमें निर्दलीय और सपा-बसपा के विधायकों को भी बुलाया गया था, लेकिन वे बैठक में नहीं पहुंचे थे। कांग्रेस के भी कुछ विधायक बैठक में अनुपस्थित थे। गुरुवार को दूसरे दिन बैठक शुरू होने से पूर्व 1857 की क्रांति को याद कर वीरांगना रानी लक्ष्मी बाई के बलिदान दिवस पर कांगे्रस विधायक दल की ओर से उन्हें सामूहिक रूप से श्रद्धांजलि अर्पित की गई।   बैठक में कमलनाथ ने कहा कि आज हम राज्यसभा चुनाव को लेकर दोबारा यहां एकत्रित हुए हैं। आज एक बार फिर सभी विधायकों को प्रशिक्षण दिया जाएगा, ताकि कल होने वाले चुनाव को लेकर कोई भी गलती न हो। इस चुनाव के बाद हमें आगामी 24 उपचुनाव के लिए जुटना है, जिसके परिणाम एक संदेश के रूप में होंगे, उन लोगों के लिए जिन्होंने साजिश-षड्यंत्र व धोखा कर एक चुनी हुई सरकार को गिराने का काम किया है।   उन्होंने कहा कि कांग्रेस का इतिहास लोगों को जोडऩे का रहा है, कांग्रेस से जिन राजा-महाराजाओं ने धोखा कर अपनी अलग पार्टी बनाई उनका हश्र सभी ने देखा। कांग्रेस आज भी आमजन की पार्टी है, यही हमारी संस्कृति है। हम लोगों को जोड़ते हैं, समाज के सभी वर्गों को साथ लेकर चलते हैं। कुछ लोगों का इतिहास ही धोखे का रहा है। आज जमाना सोशल मीडिया का है, आगामी चुनाव भी इसी पर आधारित होंगे। आप सभी लोग सोशल मीडिया का ज्यादा से ज्यादा उपयोग कर सोशल मीडिया के प्लेटफार्म पर अपनी सशक्त उपस्थिति दर्ज कराएं।   बैठक में मुकुल वासनिक ने कहा कि आज प्रदेश की जनता में उन लोगों के खिलाफ आक्रोश है, जिन्होंने कांगे्रस के साथ धोखा कर चुनी हुई एक लोकप्रिय सरकार को गिराया। कल होने वाले राज्यसभा चुनाव के बाद उपचुनाव की तैयारियां प्रारंभ हो जाएंगी। ये चुनाव हमारे लिए चुनौतीपूर्ण हैं। हम सभी लोगों से चर्चा कर इन क्षेत्रों में सबसे बेहतर उम्मीदवार चुनाव मैदान में उतारेंगे। आप लोग भी अच्छे उम्मीदवारों को लेकर अपनी राय पार्टी को दें। कोरोना महामारी का दौर खत्म होते ही हम सब लोग इन क्षेत्रों में दौरे करेंगे, बैठकें लेंगे।   राज्यसभा उम्मीदवार फूलसिंह बरैया ने कहा कि कांग्रेस एक राष्ट्रीय पार्टी है, उसका वर्षों पुराना इतिहास हमारे सामने है। भाजपा का इतिहास कांगे्रस के मुकाबले बहुत छोटा है, लेकिन उसके बाद भी यदि भाजपा की चुनावों में जीत होती है तो उसके पीछे कारण, उसका समाज को बांटना है। भाजपा समाज को बांटकर वोटों का धुव्रीकरण कर सत्ता में आती है। आज आवश्यकता है संविधान बचाओ-राष्ट्र बचाओ-भाजपा भगाओ।   वहीं, पूर्व मुख्यमंत्री एवं राज्यसभा उम्मीदवार दिग्विजयसिंह ने कहा कि मुझे राजनीति में आये अगले साल 50 वर्ष पूरे हो जाएंगे और कमलनाथ जी से मेरी दोस्ती 40 वर्षों से भी पुरानी है। कई लोगों ने प्रयास किये कि हमारे संबंधों में दरार आये, लेकिन आज तक इसमें कोई सफल नहीं हुआ। कमलनाथ जी ने जिस प्रकार से इतनी कड़ी मेहनत कर मप्र में छिंदवाड़ा मॉडल की तरह बूथ-सेक्टर-मंडलम स्तर पर संगठन को मजबूत किया, वह काबिलेतारीफ है। कमलनाथ जी ने सभी को संगठित कर मप्र के 15 वर्ष के भाजपा के कुशासन को उखाड़ फेंका, 15 माह की कांग्रेस सरकार में प्रदेश की जनता और हम सभी ने खुलकर सांसे लीं, लेकिन भाजपा ने धोखा कर जनता की चुनी सरकार को गिरा दिया।   उन्होंने कहा कि पिछले दिनों शिवराजसिंह के सामने आये वीडियो में उन्होंने स्पष्ट रूप से स्वीकार किया कि केंद्रीय नेतृत्व के निर्देश पर हमने यह सरकार गिरायी। आज समय है कि हम सब कमलनाथ जी के साथ खड़े होकर मजबूती के साथ उनका साथ दें, उनके हर फैसले में उनके साथ कंधे से कंधा मिलाकर खड़े हों।     बैठक में अभा कांग्रेस सचिव एवं प्रदेश प्रभारी सुधांशु त्रिपाठी, संजय कपूर, और कुलदीप इंदौरा, मप्र कांग्रेस कमेटी के पूर्व अध्यक्ष सुरेश पचैरी, कांतिलाल भूरिया तथा अरुण यादव, विधानसभा में पूर्व नेता प्रतिपक्ष अजयसिंह राहुल भैया, प्रदेश उपाध्यक्ष चंद्रप्रभाष शेखर, प्रशासन प्रभारी महामंत्री राजीव सिंह सहित पार्टी के सभी विधायक उपस्थित थे। कांग्रेस के चुनाव कार्य प्रभारी जेपी धनोपिया ने विधायकों को मतदान को लेकर आवश्यक जानकारी दी।  

Dakhal News

Dakhal News 18 June 2020


bhopal,Congress opens front , reduce security , Chhindwara MP, Nakul Nath

भोपाल। पूर्व सीएम और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ के छिंदवाड़ा से सांसद पुत्र नकुलनाथ की सुरक्षा घटाने के बाद अब कांग्रेस ने मोर्चा खोल दिया है। प्रदेश के इकलौते कांग्रेस सांसद नकुल नाथ की प्रदेश के गृह मंत्रालय द्वारा सुरक्षा व्यवस्था को वाय+ से घटाकर तीन कैटेगरी कम कर एक्स+ श्रेणी की कर दी है। जिस पर कांग्रेस ने मोर्चा खोलते हुए इसे भाजपा सरकार की राजनैतिक दुर्भावना व द्वेष भावना से की गई कार्रवाई बताया है।   कांग्रेस मीडिया समन्वयक नरेन्द्र सलूजा ने गुरुवार को एक बयान जारी कर कहा कि भाजपा सरकार स्पष्ट करें कि किन कारणों से सांसद नकुल नाथ की सुरक्षा व्यवस्था घटाई गई है? उन्होंने आरोप लगाया कि कोरोना महामारी में भी भाजपा प्रदेश की जनता को भगवान भरोसे छोड़ जमकर राजनीति कर रही है, निरंतर राजनीतिक दुर्भावना से प्रेरित कार्रवाई कर रही है। भाजपा की वर्तमान सरकार प्रदेश में दुर्भावना से प्रेरित कार्यवाहियों व निर्णयों से एक गलत परंपरा को जन्म दे रही है।   कांग्रेस नेता सलूजा ने हाल ही में ज्योतिरादित्य सिंधिया के कट्टर विरोधी जयभान सिंह पवैया को जो वर्तमान में विधायक भी नहीं है, को लॉकडाउन में वाय+ श्रेणी की सुरक्षा व्यवस्था प्रदान करने पर सवाल उठाते हुए कहा कि भाजपा सरकार बताए कि प्रदेश में कितने लोगों को वाय+ श्रेणी की सुरक्षा व्यवस्था प्रदान की जा रही है? उसकी सूची सार्वजनिक हो, उसमें से कितने वर्तमान में मंत्री, विधायक या सांसद हैं या जिम्मेदार पद पर बैठे हैं यह भी सार्वजनिक किया जाए? उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा कि कांग्रेस, भाजपा सरकार की निरंतर राजनैतिक दुर्भावना से प्रेरित कार्रवाई पर चुप नहीं बैठेगी और सडक़ों पर आकर इसका विरोध करेगी।

Dakhal News

Dakhal News 18 June 2020


bhopal,BJP leader, Ajab Singh Kushwaha ,held hands , Congress

भोपाल। मध्यप्रदेश में विधानसभा की रिक्त 24 सीटों पर आगामी दिनों में होने वाले उपचुनावों को लेकर उथल-पुथल मची हुई है। दलबदलू नेता एक पार्टी का साथ छोडक़र दूसरी का दामन थाम रहे हैं। इसी बीच भाजपा के एक बड़े नेता अजब सिंह कुशवाहा ने भी कांग्रेस का हाथ थाम लिया है।   मुरैना जिले में अजब सिंह कुशवाहा भाजपा के एक बड़े नेता माने जाते थे और उन्होंने 2018 के विधानसभा चुनाव में भाजपा उम्मीदवार के तौर पर जिले की सुमावली सीट से चुनाव लड़ा था, लेकिन कांग्रेस उम्मीदवार ऐंदल सिंह कंषाना ने उन्हें हरा दिया था। बता दें कि ऐंदल सिंह कंषाना ज्योतिरादित्य सिंधिया के कट्टर समर्थक माने जाते हैं और उन्होंने बीते दिनों कांग्रेस छोडक़र भाजपा का दामन थाम लिया था। इसीलिए अभी सुमावली सीट भी खाली है।    भाजपा नेता अजब सिंह कुशवाहा गुरुवार सुबह भोपाल पहुंचे और कांग्रेस कार्यालय पहुंचकर कांग्रेस में शामिल हो गए। पूर्व मुख्यमंत्री और पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने उन्हें पार्टी की सदस्यता दिलाई। बताया जा रहा है कि कांग्रेस उन्हें इस सीट से अपना उम्मीदवार घोषित कर सकती है।  

Dakhal News

Dakhal News 18 June 2020


bhopal, CM Shivraj ,paid tribute,martyr Jawan ,Deepak Singh , Rewa

भोपाल। लद्दाख के भारत-चीन सीमा के गलवान घाटी में चीनी सैनिकों से हुई झड़प में भारतीय सेना के कमांडिंग अफसर सहित 20 जवान शहीद हो गए। इनमें रीवा का एक जवान दीपक सिंह गहरवार भी शामिल है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने रीवा के जवान शहीद होने पर शोक संवेदना व्यक्त करते हुए विनम्र श्रद्धांजलि अर्पित की है।    मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बुधवार को ट्वीट के माध्यम से शोक व्यक्त करते हुए कहा है कि - ‘ ‘तूने सींचा है अपने लहू से वतन की मिट्टी को, वीरों की इस मिट्टी पर हम अभिमान करते हैं। ऐ मेरे वतन के शेर, तेरे जाने से चीत्कार रहा दिल, तेरे लहू के हर कतरे, तेरी शहादत को सलाम करते हैं। भारत-चीन की झड़प में शहीद हुए रीवा के वीर सपूत दीपक सिंह के चरणों में विनम्र श्रद्धांजलि।’   वहीं, प्रदेश की आदिम जाति कल्याण मंत्री मीना सिंह ने भी रीवा के सहीज जवान दीपक सिंह के प्रति शोक संवेदना व्यक्त करते हुए उन्हें श्रद्धांजलि दी है। मंत्री मीना सिंह ने शहीद जवान दीपक सिंह को कोटि कोटि नमन करते हुये श्रद्धांजलि अर्पित की और ईश्वर से उनके परिजनों को इस दु:ख को सहन करने की शक्ति प्रदान करने कामना करते हुये कहा है कि शहीद जवान के परिजनों के साथ पूरा देश और प्रदेश सरकार है।

Dakhal News

Dakhal News 17 June 2020


bhopal, Deepak Singh, Rewa soldier, also martyred ,india-China military skirmish

रीवा। चीन और भारत के बीच हुए विवाद में रीवा का लाल दीपकसिंह गहरवार शहीद हो गया है। सूचना मिलते ही दीपक सिंह के गांव फरोदा में मातम छा गया है। शहीद दीपक सिंह की शादी नवंबर, 2019 में हुई थी। दीपक के शहीद होने की सूचना बिहार रेजीमेंट के द्वारा पुलिस अधीक्षक रीवा को दी गई, जहां से यह सूचना दीपक के परिजनों तक पहुंचाई गई।     जानकारी के अनुसार दीपक की शहादत से उनकी पत्नी एवं मां को गहरा सदमा लगा है और उनकी स्थिति गंभीर है। नवंबर 2019 में शादी के बाद दीपक अपनी नवविवाहिता पत्नी को छोड़कर तैनाती के लिए रवाना हो गए थे। 15 दिन पहले ही दीपक ने घर पर फोन करके पत्नी से कहा था कि घर वापसी के समय वे उसके लिए कश्मीरी शाल एवं कुछ गहने लेकर आएंगे। लेकिन किस्मत को कुछ और ही मंजूर था। इस संबंध में पुलिस अधीक्षक रीवा, आबिद खान का कहना है कि सिपाही दीपक सिंह गहरवार के शहीद होने की सूचना आई है, उनका पार्थिव शरीर गांव तक पहुंचने में अभी 2 से 3 दिन का समय लग सकता है।  

Dakhal News

Dakhal News 17 June 2020


bhopal,Digvijay Singh, reached Crime Branch, register case, against CM Shivraj

भोपाल। मप्र की राजनीति में इन दिनों उथल-पुथल मची हुई है। भाजपा द्वारा कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने के बाद पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह बुधवार को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने के लिए एमपी नगर क्राइम ब्रांच थाने पहुँचे। उन्होंने कहा है कि अक्सर ऐसा होता है चुनाव से पहले ऑडियो- वीडियो वायरल होते हैं और क्राइम ब्रांच पर शिकायत दर्ज होती है। जब तक इस एफआईआर पर कार्रवाई नहीं होती प्रदेश में कोई भी ऑडियो- वीडियो सत्य न माने जाए।    पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह बुधवार सुबह कांग्रेस नेताओं के साथ सीएम शिवराज के खिलाफ प्रकरण दर्ज कराने क्राइम ब्रांच पहुंचे। यहां उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि शिवराज सिंह चौहान के चुनाव क्षेत्र में जिस तरह से चिटफंड कंपनी का घोटाला कर आदिवासियों को ठगा गया। उस घोटालों को मेरे द्वारा उजागर कर सीएम शिवराज को पत्र लिखकर कहा है कार्यवाही करें,  वरना मुझे आपके घर के सामने आकर धरना प्रदर्शन करना पड़ेगा। इस छोटे से मसले को लेकर उन्होंने मेरे ऊपर एफआईआर करा दी।   उन्होंने कहा कि जिस अपराध के लिए मेरे खिलाफ एफआईआर हुई है, वहीं अपराध शिवराज सिंह चौहान ने किया है। इसकी वीडियो क्लीप हमारे पास है, रियल भी और फेक भी। दिग्विजय सिंह ने मांग करते हुए कहा कि अगर मुझ पर एफआईआर हुई है तो उन पर भी होनी चाहिए और हम मांग करते है मप्र पुलिस और भोपाल पुलिस से कि जिस तरह से उन्होंने मेरे खिलाफ प्रकरण दर्ज किया है उनके खिलाफ किया जाए। दिग्विजय सिंह ने कहा कि कांग्रेस कार्यकर्ताओं को इसी ट्वीट को लेकर पुलिस परेशान कर रही है। इसलिए जब तक वीडिया एडिट किसने किया है इसकी जानकारी न लगे, तब तक किसी पर भी कार्यवाही नहीं होनी चाहिए।   

Dakhal News

Dakhal News 17 June 2020


bhopal, CM Shivraj, left for Lucknow,health ,Governor Lalji Tandon

भोपाल। मध्य प्रदेश के राज्यपाल लालजी टंडन स्वास्थ्य खराब होने के कारण लखनऊ के मेदांता अस्पताल में भर्ती हैं। उनकी हालत गंभीर बनी हुई है, जिसके कारण उन्हें वेंटिलेटर सपोर्ट पर रखा गया है। राज्यपाल लालजी टंडन का हाल जानने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान लखनऊ के लिए रवाना हुए है। उन्होंने इस बात की जानकारी ट्वीट कर दी है।    सीएम शिवराज सिंह चौहान राज्यपाल लालजी टंडन का हाल जानने लखनऊ रवाना हुए है। सीएम शिवराज दोपहर 1 बजे विशेष विमान से भोपाल से लखनऊ के लिए रवाना हुए। इस बात की जानकारी उन्होंने ट्वीट कर दी। उन्होंने ट्वीट कर कहा कि ‘हमारे राज्यपाल श्री लालजी टंडन जी के स्वास्थ्य को लेकर चिंतित हूं, उनसे मिलने लखनऊ जा रहा हूं’। गौरतलब है कि राज्यपाल लालजी टंडन 11 जून से लखनऊ के मेदांता अस्पताल में भर्ती है। डॉक्टरों के मुताबिक उनके लीवर में दिक्कत आने पर सीटी गाइडेड प्रोसीजर किया गया था। इसके बाद पेट में रक्त का स्त्राव बढ़ गया है और इमरजेंसी ऑपरेशन करना पड़ा था। राज्यपाल को सांस लेने में परेशानी हुई तो वेंटिलेटर सपोर्ट पर रखा गया है।

Dakhal News

Dakhal News 16 June 2020


new delhi,Three Hizbul Mujahideen terrorists, killed, Shopian encounter

शोपियां। शोपियां जिले के तुर्कवंगम इलाके में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच मंगलवार सुबह हुई मुठभेड़ में सुरक्षाबलों ने हिजबुल मुजाहिदीन के तीन आतंकियों को मार गिराया गया है। फिलहाल मुठभेड़ समाप्त हो गई है तथा सुरक्षाबलों ने इलाके में तलाशी अभियान शुरू कर दिया है। इस मुठभेड़ में मारे गए आतंकियों के शवों के साथ भारी तादाद में हथियार व गोलाबारूद भी बरामद हुआ है।   शोपियां जिले के तुर्कवंगम इलाके में सुरक्षाबलों को आतंकियों के छिपे होेने की सूचना मिली। सूचना मिलने के आधार पर सेना की 44 आरआर, पुलिस और सीआरपीएफ के जवानों ने तलाशी अभियान चलाया। इस दौरान आतंकियों ने सुरक्षाबलों को पास आते देख गोलीबारी शुरू कर दी जिसके बाद मुठभेड़ शुरू हो गई। इस मुठभेड़ में सुरक्षाबलों ने तीन आतंकियों को मार गिराया है। फिलहाल मुठभेड़ समाप्त हो गई है। सुरक्षाबलों ने पूरे इलाके की घेराबंदी कर तलाशी अभियान शुरू कर दिया है। सुरक्षाबलों ने क्षेत्र के सभी आने-जाने वाले रास्तों को सील कर दिया है। इस मुठभेड़ में मारे गए आतंकियोें की पहचान जिला कमांडर जुबैर अहमद वानी निवासी तुर्कवंगम जैनपोरा शोपियां, मुनीबुल हक निवासी सुगान और कामरान जहूर मन्हास उर्फ अबु बकर निवासी यावूरा शोपियां के तौर पर हुई है।   डीजीपी जम्मू दिलबाग सिंह ने तीनों आतंकियों के मारे जाने की पुष्टि करते हुए बताया कि जून में ही सुरक्षाबलों ने विभिन्न मुठभेड़ों में 17 आतंकी मार गिराए है। उन्होंने कहा कि इस वर्ष जनवरी से अब तक कुल 109 आतंकी कश्मीर घाटी में ढेर किये जा चुके हैं।  

Dakhal News

Dakhal News 16 June 2020


new delhi, Violent clash, China, three soldiers, martyred ,Galvan Valley

नई दिल्ली। पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर तनातनी ख़त्म करने के लिए चीन के साथ लगातार चल रही सैन्य वार्ताओं के बीच सोमवार देर रात  गलवान घाटी में दोनों सेनाओं को पीछे करने की कवायद के दौरान दोनों देशों की सेनाओं में हिंसक झड़प हो गई। इस दौरान चीन की ओर से की गई फायरिंग में भारतीय सेना के एक कर्नल और तीन सैनिकों की मौत हो गई है। एलएसी पर 1975 के बाद यह पहला मौका है जब चीन के साथ इस तरह की हिंसा में भारतीय सेना के अधिकारी और सैनिकों की मौत हुई है।   भारत और चीन ने सोमवार को भी दिन में अपनी सैन्य वार्ता जारी रखी। ब्रिगेडियर और कर्नल स्तर की हुई वार्ता में पूर्वी लद्दाख के गलवान घाटी क्षेत्र और हॉट स्प्रिंग्स क्षेत्र पेट्रोलिंग पॉइंट्स 14 और 17 के दो फेस-ऑफ स्थलों पर चर्चा हुई। फिंगर-4 के कब्जा जमाये बैठे चीनी सैनिक वहां से हटने को तैयार नहीं हैं। अब हुईं सैन्य वार्ताओं में कई बार यह मुद्दा उठा लेकिन यह गतिरोध ख़त्म नहीं हो पाया। फिंगर-4 पर बैठे चीनी सैनिक भारतीय गश्ती दल को आगे नहीं जाने देते हैं। इसी मुद्दे पर दिन में हुई बैठक के बाद रात को गलवान घाटी में चीनी और भारतीय सैनिक आमने-सामने आ गए। यहीं पर इन दिनों चीन और भारतीय सैनिकों के पीछे हटने की प्रक्रिया चल रही थी क्योंकि भारत का साफ कहना था कि लाइन ऑफ एक्‍चुअल कंट्रोल (एलएसी) पर तनाव पूरी तरह से तभी खत्‍म होगा, जब तक चीन के सारे सैनिक नहीं हट जाते।     सेना प्रमुख जनरल मनोज मुकुंद नरवणे ने भी शनिवार को कहा था कि जारी सैन्य बातचीत से भारत और चीन के बीच 'सभी कथित मतभेदों' का समाधान हो जाएगा। उन्होंने पहली बार यह माना था कि चीनी सेना ने भारतीय क्षेत्र के जिन इलाकों में कब्ज़ा कर लिया था, वहां से वापस होने लगी हैं। एलएसी पर चीन के साथ हुई झड़प को लेकर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने सीडीएस बिपिन रावत के साथ बैठक की। इस बैठक में विदेश मंत्री एस. जयशंकर और आर्मी चीफ जनरल एमएम नरवणे भी मौजूद थे।      इस घटना के बारे में आधिकारिक जानकारी देने के लिए भारतीय सेना की दोपहर 2 बजे प्रेस कॉन्फ्रेंस होगी। चीन की तरफ कितना नुकसान हुआ है, इस बारे में अभी कोई जानकारी नहीं दी गई है। इस बड़े घटनाक्रम के बाद दोनों सेनाओं के वरिष्‍ठ अधिकारी मौके पर मुलाकात करके हालात संभालने की कोशिश में लगे हुए हैं।    

Dakhal News

Dakhal News 16 June 2020


bhopal, corona infected,Madhya Pradesh,10,897, , 463 people died

भोपाल। मध्य प्रदेश में कोरोना के मरीज तेजी से स्वस्थ हो रहे हैं। यहां रिकवरी रेट 71 फीसदी से अधिक है। इस मामले में मध्य प्रदेश देश में राजस्थान के बाद दूसरे स्थान पर है लेकिन नये मरीजों की संख्या भी कम नहीं हो रही है। अब यहां छह जिलों में 95 नये मामले सामने आए हैं। इसके बाद राज्य में संक्रमितों की संख्या 10 हजार 897 हो गई है। वहीं, प्रदेश में कोरोना से अब तक 463 लोगों की मौत हो चुकी है।    इंदौर के मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. एमपी शर्मा ने सोमवार को बताया कि एमजीएम मेडिकल कॉलेज द्वारा रविवार देर रात 1058 सेम्पलों की जांच रिपोर्ट जारी की, जिनमें छह नये पॉजिटिव मिले हैं। इसके बाद यहां संक्रमित मरीजों की संख्या 4069 हो गई है। वहीं, इंदौर में कोरोना से चार लोगों की मौत की भी पुष्टि हुई है। मृतकों में 62 वर्षीय महिला के साथ ही 40, 74 तथा 99 वर्षीय पुरुष शामिल हैं। इसके बाद इंदौर में कोरोना से मरने वालों की संख्या 174 हो गई है। इधर, भोपाल सीएमएचओ डॉ. प्रभाकर तिवारी ने मुताबिक सोमवार सुबह आई रिपोर्ट में कोरोना के 52 नये मामले सामने आए हैं। इसके अलावा रतलाम में 20, उज्जैन में नौ, नीमच में पांच और रायसेन में तीन नये पॉजिटिव मिले हैं।   इन 95 नये मामलों के साथ राज्य में संक्रमित मरीजों की संख्या 10,897 हो गई है। इनमें सबसे अधिक इंदौर में 4069, भोपाल 2247, उज्जैन 801, खंडवा 279, बुरहानपुर 384, जबलपुर 309, खरगौन 220, धार 137, ग्वालियर 257, नीमच 385, मंदसौर 95, सागर 252, मुरैना 146, देवास 163, रायसेन 87, भिंड 115, बड़वानी 66, होशंगाबाद 37, रतलाम 106, रीवा 39, विदिशा 40, बैतूल 37, सतना 22, छतरपुर 45, डिंडौरी 30, दमोह 29, आगरमालवा 15, झाबुआ 14, अशोकनगर 41, शाजापुर 46, सीधी 17, सिंगरौली 12, दतिया 21, शहडोल 15, बालाघाट 12, श्योपुर 58, शिवपुरी 21, टीकमगढ़ 20, छिंदवाड़ा 31, नरिसंहपुर 19, सीहोर 11, उमरिया 10, पन्ना 21, अलीराजपुर 03, अनूपपुर 28, हरदा 11, राजगढ़ 45, गुना 10, मंडला 05, सिवनी 02 निवाड़ी 03 और कटनी 08 मरीज शामिल हैं।    इंदौर में हुई चार मौतों के बाद राज्य में कोरोना मरने वालों की संख्या 463 हो गई है। मृतकों में सबसे अधिक इंदौर के 174, भोपाल 72, उज्जैन 66, बुरहानपुर 22, खंडवा 17, जबलपुर 12, खरगौन 14, ग्वालियर 02, धार 05, मंदसौर 09, नीमच 07, सागर 15, देवास 10, रायसेन 03, होशंगाबाद 03, सतना 02, आगरमालवा 01, झाबुआ 01, अशोकनगर 01, शाजापुर 03, दतिया 01, छिंदवाड़ा 02, सीहोर 02, उमरिया 01, रतलाम 04, बड़वानी 02 मुरैना 01, राजगढ़ 04, श्योपुर 02, टीमकगढ़ 01, रीवा 01, गुना 01 और मंडला का एक व्यक्ति शामिल है। हालांकि, राज्य में अब तक 7677 मरीज स्वस्थ होकर अपने घर पहुंच चुके हैं। अब यहां सक्रिय मरीजों की संख्या 2761 है।  

Dakhal News

Dakhal News 15 June 2020


bhopal,CM Shivraj ,arrives at Karunadham Ashram, doors of open temples

भोपाल। कोरोना महामारी के चलते राजधानी भोपाल में पिछले 84 दिन से लगे लॉकडाउन के बाद से बंद धार्मिक स्थल सोमवार से धार्मिक दोबारा खुले। इस दौरान नियमों का पालन कर लोगों को प्रवेश दिया गया। मंदिरों के कपाट खुलने के बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान भी भगवान के दर्शन करने सोमवार सुबह भोपाल के करुणाधाम आश्रम पहुंचे और मातारानी का आशीर्वाद लिया।    सीएम शिवराज ने करुणा धाम आश्रम पहुंचने के बाद ट्वीट कर जानकारी साझा की। उन्होंने ट्वीट कर कहा कि ‘आज भोपाल में करुणाधाम आश्रम पहुँचकर माता रानी के चरणों में माथा टेका। माता रानी से प्रार्थना करता हूँ कि हम सभी भक्तों को इस विपदा की घड़ी में शक्ति दें और अपना आशीर्वाद व स्नेह हम सभी पर बनाए रखें। जय माता दी!   बतातें चले कि आज से राजधानी भोपाल में सभी धर्मों के धर्म स्थल खुले तो पूजा-अर्चना, आरती व देव दर्शन से लेकर श्रद्धालुओं के प्रवेश का तरीका सबकुछ बदला-बदला रहा। मंदिर पहुंचने वाले भक्तों को घंटी बजाने और फूलमाला-चुनरी, प्रसादी चढ़ाने की अनुमति नहीं है। भगवान के दर्शन भी निश्वित स्थान पर बने गोल घेरे में खड़े होकर ही हो पाए। मंदिरों में दान करने के लिए ऑनलाइन व्यवस्था की गई है, नगद चढ़ावे पर रोक लगा दी गई है। वहीं मस्जिदों में नमाज तो हुई, लेकिन सभी के बीच फासदा रखा गया। चादर चढ़ाने की भी अनुमति नहीं है। नमाज पढऩे के लिए लोग घर से ही वुजू करके आए। यही सुरक्षित दूरी की तस्वीर गुरुद्वारों व चर्चों में दिखाई दी। गुरुद्वारा में हाथ-पांव अच्छे से धोकर ही प्रवेश की अनुमति के अलावा सभी संगत की गतिविधियां कैमरे में कैद होंगी।  

Dakhal News

Dakhal News 15 June 2020


bhopal,Case registered, 11, including Digvijay, making fake video viral

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के पुराने वीडियो को ऑडिट कर उसे सोशल मीडिया पर वायरल करने के मामले में वरिष्ठ कांग्रेस नेता एवं पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह समेत 11 लोगों पर एफआईआर दर्ज की गई है। इसकी पुष्टि सोमवार को भोपाल डीआईजी इरशाद वली ने की है। उन्होंने बताया है कि पुलिस मामले की जांच कर रही है।   बता दें कि शिवराज ने विपक्ष में रहते हुए 12 जनवरी 2020 को तत्कालीन कमलनाथ सरकार की शराब नीति पर बोलते हुए दो मिनट 19 सेकंड का एक वीडियो पोस्ट किया था। आरोप है कि उस वीडियो के साथ छेड़छाड़ करके नौ सेकंड का एक वीडियो तैयार किया गया है। इसे सोशल मीडिया पर वायरल किया जा रहा है। इस वीडियो में कथित तौर पर मुख्यमंत्री को यह कहते हुए दिखाया गया है कि ‘दारू इतनी फैला दो कि पीएं और पड़े रहें'।   पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने रविवार को दोपहर एक बजकर 50 मिनट पर वायरल वीडियो को अपने ट्विटर से साझा किया था। इसे 11 लोगों ने रीट्वीट किया था। विवाद बढऩे पर दिग्विजय ने इसे डिलीट कर दिया है। भोपाल क्राइम ब्रांच ने भाजपा की शिकायत पर दिग्विजय के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है। इसके साथ ही वीडियो को रीट्वीट करने वाले अन्य 11 लोगों को भी आरोपी बनाया गया है। पुलिस ने एफआईआर दर्ज करने के बाद कार्रवाई शुरू कर दी है। इसे लेकर शिवराज ने रविवार को चेतावनी दी थी कि इसे साझा करने वालों पर सख्त कार्रवाई की जाएगी। इसके बाद रविवार शाम को ही भाजपा विधायक विश्वास सारंग और अन्य भाजपा नेताओं ने भोपाल क्राइम ब्रांच पहुंचकर दिग्विजय सिंह के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई थी। उनका कहना है कि कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह द्वारा इस वीडियो के जरिए जनता को भ्रमित करने की कोशिश की गई है। पुलिस ने शिकायत को गंभीरता से लेते हुए दिग्विजय सिंह समेत 11 लोगों के खिलाफ प्रकरण दर्ज कर लिया है।   भोपाल डीआईजी इरशाद वली ने सोमवार को बताया कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के पुराने वीडियो को एडिट कर छवि खराब करने के उद्देश्य से सोशल मीडिया पर वायरल करने के मामले को गंभीरता से लिया गया है। उन्होंने कहा कि मामले में साइबर एक्ट के तहत एफआईआर दर्ज की गई है और मामले की जांच शुरू कर दी है।  

Dakhal News

Dakhal News 15 June 2020


sehdol,Five laborers killed, six injured ,Mud mud mine

शहडोल। जिले के ब्यौहारी थाना क्षेत्र अंतर्गत बुढ़वा रोड स्थित ग्राम पपरेड़ी में शनिवार सुबह छुई मिट्टी की खदान धंकसने से वहां काम कर रहे मजदूर मलबे में दब गए। सूचना मिलने पर प्रशासनिक और पुलिस अधिकारी दल-बल के साथ मौके पर पहुंचे और राहत एवं बचाव कार्य शुरू किया। इस हादसे में पांच मजदूरों की मौत हो चुकी है और उनके शव मलबे से बाहर निकाल लिये गये हैं। वहीं, छह लोगों को गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती किया गया है। फिलहाल रेस्क्यू जारी है और मलबे में कुछ और लोगों के दबे होने की आशंका जताई जा रही है। सूचना मिलने पर कलेक्टर-एसपी भी मौके पर पहुंच गए हैं।   जानकारी के मुताबिक, जिला मुख्यालय से 110 किलोमीटर दूर ब्यौहारी थाने के अंतर्गत पपरेड़ी गांव में निजी जमीन पर एक छुई मिट्टी की खदान है, जहां शनिवार सुबह 11 ग्रामीण खुदाई कर रहे थे। तभी तभी खदान धसक गयी और ग्रामीण इसके मलबे में दब गए। मलबे में दबने से पांच लोगों की मौके पर ही मौत हो गयी, जबकि छह अन्य घायल हो गए । घटना की सूचना के मिलते ही प्रशासनिक अधिकारी मौके पर पहुंचे और राहत कार्य कराया। कलेक्टर-एसपी ने भी मौके पर पहुंचकर मामले की जानकारी ली।   कलेक्टर सत्येन्द्र सिंह ने बताया कि इस हादसे में अब तक पांच लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि छह लोगों को गंभीर हालत में अस्पताल पहुंचाया गया है, जहां उनका उपचार जारी है। अभी मृतकों की पहचान नहीं हो पाई है। हादसे में कुछ और लोगों के दबे होने की आशंका है। राहत एवं बचाव कार्य जारी है और मलबे में दबे लोगों को बाहर निकालने के प्रयास किये जा रहे हैं।    स्थानीय विधायक शहद कोल भी मौके पर पहुंचे और उन्होंने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह को घटना से अवगत कराया। मुख्यमंत्री ने मृतकों के परिवारजनों को 2-2 लाख की सहायता उपलब्ध कराने की घोषणा की है। बताया गया है कि  निजी जमीन पर यह खदान अवैध रूप से संचालित की जा रही थी। स्थानीय ग्रामीण यहां से छुई मिट्टी खोद कर जमा करते थे, जिसके बाद अवैध रूप से व्यापारियों द्वारा इसे परिवहन किया जाता था। गौरतलब है कि छुई मिट्टी का इस्तेमाल पेंट करने में किया जाता है।  

Dakhal News

Dakhal News 13 June 2020


bhopal, Kamal Nath ,opposed, rising prices ,petrol and diesel

भोपाल। देशभर में पिछले छह दिनों से पेट्रोल-डीजल की कीमतों में लगातार इजाफा हो रहा है। वहीं, मध्यप्रदेश की शिवराज सिंह चौहान सरकार ने राज्य में पेट्रोल-डीजल पर लगने वाले उपकरों में एक-एक रुपये का इजाफा कर दिया है और यह दरें शुक्रवार की आधी से रात से लागू भी हो गई हैं। पेट्रोल-डीजल की इन बड़ी हुई कीमतों का पूर्व सीएम और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने विरोध किया है। उन्होंने सोशल मीडिया के माध्यम से शिवराज सरकार पर निशाना साधते हुए इसे जनता पर दोहरी मार बताया है।   पूर्व सीएम कमलनाथ ने शनिवार को सिलसिलेवार ट्वीट कर कहा है कि -‘ कोरोना महामारी के इस संकट काल में जनता को पेट्रोल-डीजल पर लगने वाले करों में कमी कर राहत देने का समय है, लेकिन इस संकटकाल में भी उन पर करों में बढ़ोतरी कर जनता पर महंगाई की दोहरी मार थोपी जा रही है।’   उन्होंने कहा है कि - ‘एक तरफ कच्चा तेल सस्ता हो रहा है, वहीं दूसरी तरफ पेट्रोल-डीजल के दामों में निरंतर बढ़ोतरी हो रही है। पहले केंद्र सरकार ने जनता को राहत देने की बजाय पेट्रोल-डीजल पर एक्साइज ड्यूटी बढ़ाकर खुद के खजाने को भरने का काम किया। अब मध्यप्रदेश की सरकार ने इस संकट काल में पेट्रोल और डीजल पर एक एक-एक रुपये का अतिरिक्त कर बढ़ाकर जनता को महंगाई की आग में झोंकने का काम किया है।’   उन्होंने अगले ट्वीट में लिखा है कि - ‘प्रदेश में पेट्रोल पर पूर्व में ही 33 फीसदी वैट, एक फीसदी सेंस व 3.5 रुपये अतिरिक्त कर और डीजल पर 23 फीसदी वैट एक फीसदी सेंस व 2 रुपये अतिरिक्त कर लग रहा था। अब इन अतिरिक्त करों में एक-एक रुपये की इस बढ़ोतरी से पेट्रोल व डीजल में अभी तक का सर्वाधिक टैक्स हो गया है।’  

Dakhal News

Dakhal News 13 June 2020


bhopal, Kamal Nath ,opposed, rising prices ,petrol and diesel

भोपाल। देशभर में पिछले छह दिनों से पेट्रोल-डीजल की कीमतों में लगातार इजाफा हो रहा है। वहीं, मध्यप्रदेश की शिवराज सिंह चौहान सरकार ने राज्य में पेट्रोल-डीजल पर लगने वाले उपकरों में एक-एक रुपये का इजाफा कर दिया है और यह दरें शुक्रवार की आधी से रात से लागू भी हो गई हैं। पेट्रोल-डीजल की इन बड़ी हुई कीमतों का पूर्व सीएम और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने विरोध किया है। उन्होंने सोशल मीडिया के माध्यम से शिवराज सरकार पर निशाना साधते हुए इसे जनता पर दोहरी मार बताया है।   पूर्व सीएम कमलनाथ ने शनिवार को सिलसिलेवार ट्वीट कर कहा है कि -‘ कोरोना महामारी के इस संकट काल में जनता को पेट्रोल-डीजल पर लगने वाले करों में कमी कर राहत देने का समय है, लेकिन इस संकटकाल में भी उन पर करों में बढ़ोतरी कर जनता पर महंगाई की दोहरी मार थोपी जा रही है।’   उन्होंने कहा है कि - ‘एक तरफ कच्चा तेल सस्ता हो रहा है, वहीं दूसरी तरफ पेट्रोल-डीजल के दामों में निरंतर बढ़ोतरी हो रही है। पहले केंद्र सरकार ने जनता को राहत देने की बजाय पेट्रोल-डीजल पर एक्साइज ड्यूटी बढ़ाकर खुद के खजाने को भरने का काम किया। अब मध्यप्रदेश की सरकार ने इस संकट काल में पेट्रोल और डीजल पर एक एक-एक रुपये का अतिरिक्त कर बढ़ाकर जनता को महंगाई की आग में झोंकने का काम किया है।’   उन्होंने अगले ट्वीट में लिखा है कि - ‘प्रदेश में पेट्रोल पर पूर्व में ही 33 फीसदी वैट, एक फीसदी सेंस व 3.5 रुपये अतिरिक्त कर और डीजल पर 23 फीसदी वैट एक फीसदी सेंस व 2 रुपये अतिरिक्त कर लग रहा था। अब इन अतिरिक्त करों में एक-एक रुपये की इस बढ़ोतरी से पेट्रोल व डीजल में अभी तक का सर्वाधिक टैक्स हो गया है।’  

Dakhal News

Dakhal News 13 June 2020


bhopal, Government on backfoot, now liquor shop, not be duty ,women officers

भोपाल। मध्यप्रदेश में महिलाओं के शराब बेचने के मुद्दे पर विपक्ष के निशाने पर आई सरकार पर अब बैकफुट पर आ गई है। महिला आरक्षकों के शराब बेचते हुए फोटो वायरल होने और सरकार की जमकर किरकिरी होने के बाद अब सरकार ने महिलाओं कर्मियों के शराब बेचने का फैसला वापस ले लिया है।   दरअसल शराब ठेकेदारों द्वारा लायसेंस सरेंडर करने के बाद शासन ने आबकारी विभाग के माध्यम से शराब दुकाने संचालित करने का फैसला किया। इसके बाद शराब दुकानों पर महिलाकर्मियों की ड्यूटी लगाई गई। शराब की दुकानों पर आबकारी विभाग की महिलाकर्मियों की तैनाती को कांग्रेस ने बड़ा मुद्दा बनाया था। विवाद बढऩे पर प्रदेश की शिवराज सरकार ने ये फैसला लिया है।    शासन द्वारा शराब दुकानों पर आबकारी विभाग की महिलाकर्मियों की तैनाती नहीं करने के निर्देश जारी कर दिए गए हैं। नए निर्देशों के मुताबिक पुरुष कर्मचारी ही शराब ठेकों पर बैठेंगे। इस संबंध में आबकारी आयुक्त ने सभी कलेक्टर्स को निर्देशित किया है कि शराब दुकानों के विभागीय संचालन की स्थिति में विक्रयकर्ता और चौकीदार के रूप में केवल पुरुष कर्मचारियों की ही ड्यूटी लगाई जाए। यानि कि अब सिर्फ होमगार्ड, पुलिस और आबकारी विभाग के अधिकारियों ही ड्यूटी कर सकेंगे। इसके साथ ही सागर जिले में जिन शासकीय कर्मचारियों की ड्यूटी मदिरा दुकानों के संचालन के लिए लगाई गई थी। उसे तुरंत प्रभाव से निरस्त कर दिया गया है।  

Dakhal News

Dakhal News 13 June 2020


ujjain,Worshiped in Morena, Ujjain , health of Scindia

मुरैना/उज्जैन। पूर्व केन्द्रीय मंत्री और भाजपा के वरिष्ठ नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया और उनकी मां माधवी राजे कोरोना संक्रमित होने के बाद दिल्ली के मैक्स अस्पताल में भर्ती हैं। हालांकि, शुक्रवार को दोनों की दूसरी जांच रिपोर्ट निगेटिव आई है और उनके स्वास्थ्य में तेजी से सुधार हो रहा है। दोनों की रिपोर्ट की निगेटिव आने के बाद उन्हें दो-तीन दिन में अस्पताल से डिस्चार्ज किया जा सकता है, लेकिन मध्यप्रदेश में उनकी सलामती के लिए मंदिरों में विशेष पूजन-अर्चन किया जा रहा है।   शनिवार को सुबह से मुरैना जिले में स्थित विश्व प्रसिद्ध शनि मंदिर पर सिंधिया परिवार के पुजारी द्वारा पूजा अर्चना की गई। सिंधिया परिवार के करीबी दो सदस्य भी इस पूजा में शामिल रहे और उनकी सेहत को लेकर कामना की। शनि मंदिर में की गई हवन-पूजा में महाराजा और महारानी की पर्चियां भी शामिल की गई।   इधर उज्जैन में शनिवार सुबह ज्योतिरादित्य सिंधिया की स्वास्थ्य कामना को लेकर समर्थकों ने हाथों में पोस्टर लेकर उज्जैन के महाकाल मंदिर के सामने पूजा-अर्चना की। समर्थकों ने ज्योतिरादित्य सिंधिया और उनकी माता के जल्द स्वास्थ्य लाभ के लिए बाबा महाकाल के शिखर दर्शन कर भगवान को धन्यवाद अर्पण किया। सिंधिया समर्थक संजय ठाकुर ने बताया कि महाराज के जल्द स्वस्थ होने के लिए बाबा महाकाल से से प्रार्थना की है।   दरअसल, तीन दिन पहले ज्योतिरादित्य सिंधिया और उनकी माताजी अस्वस्थ हो गई थीं। इसके बाद उनका कोरोना टेस्ट कराया गया था, जिसमें उनकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी, लेकिन शुक्रवार को उनका दोबार टेस्ट हुआ, जिसमें उनकी रिपोर्ट निगेटिव आई है।   

Dakhal News

Dakhal News 13 June 2020


bhopal,Former minister, Lakhon Singh ,targeted, Scindia-Shivraj

मुरैना। मध्यप्रदेश में पूर्ववर्ती सरकार को गिराने का खुलासा करने वाले ओडियो-वीडियो के वायरल होने के बाद राजनीतिक घमासान मचा हुआ है। दोनों ही पार्टी के नेता एक-दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप लगा रहे हैं। इसी बीच कमलनाथ सरकार में मंत्री रहे कांग्रेस विधायक लाखन सिंह यादव ने सीएम शिवराज सिंह चौहान और पूर्व केन्द्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया पर निशान साधा है। उन्होंने दोनों को चोर-चोर मौसेरे भाई की संज्ञा देते हुए गंभीर आरोप लगाए हैं।    दरअसल, कांग्रेस विधायक लाखन सिंह यादव शुक्रवार को मुरैना पहुंचे थे। यहां उन्होंने कार्यकर्ताओं से मुलाकात कर इस क्षेत्र में होने वाले उपचुनावों की तैयारियों का जायजा लिया। इस दौरान उन्होंने पत्रकारों से बातचीत करते हुए सिंधिया और शिवराज को आड़े हाथों लिया। उन्होंने भाजपा के दोनों वरिष्ठ नेताओं को चोर-चोर मौसेरे भाई की संज्ञा देते हुए कहा कि जनता उनको और उनके समर्थक विधायकों को जवाब देगी।    उन्होंने सिंधिया के हाल ही में हुए 50 हजार रुपये के लेन-देन के वायरल हुए ऑडियो को लेकर कहा कि ऐसे कई और भी मामले हैं जो अब धीरे-धीरे जनता के सामने आएंगे। कांग्रेस में सिंधिया के रहते जो दुखी थे, वे सभी कांग्रेस नेता अब खुश हैं। उन्होंने कहा कि उपचुनाव में चम्बल क्षेत्र में हमेशा से कांग्रेस का वर्चस्व रहा है और यहां हमारी उपचुनाव को लेकर अच्छी तैयारियां हैं। भाजपा ने कांग्रेस की सरकार गिराने का जो षड्यंत्र रचा है और उसका खुलासा आडियो-वीडियो के वायरल होने के बाद जनता के बीच हो गया है। अब उपचुनाव में जनता उन विधायकों को जवाब देगी, जो खरीद-फरोख्त में शामिल हुए और जनता के भरोसे को तोड़ा।   पूर्व मंत्री लाखन सिंह यादव ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान पर आरोप लगाते हुए कहा कि उन्होंने भी पहले प्रदेश में कांग्रेस सरकार को गिराने का काफी प्रयास किया था, लेकिन उसमें वे सफल नहीं हुए तो केन्द्रीय नेतृत्व के साथ मिलकर षड्यंत्र रचा। इसका उन्होंने वायरल हुए ऑडियो में स्वयं खुलासा किया है। लाखन सिंह ने कहा कि कांग्रेस की कमलनाथ सरकार को गिराने के पीछे भाजपा का षड्यंत्र है। वर्तमान शिवराज सरकार अल्पमत में है। उन्होंने दावा किया है कि उपचुनाव के बाद पुन: कमलनाथ के नेतृत्व में राज्य में कांग्रेस की सरकार बनेगी।

Dakhal News

Dakhal News 12 June 2020


bhopal,State 10371 infected,130 new cases, MP ,436 deaths

भोपाल। मध्यप्रदेश में कोरोना संक्रमित मरीजों का रिकवरी रेट 68 फीसदी से अधिक है। इसके बावजूद नये मामलों में कमी नहीं आ रही है। अब यहां तीन जिलों में 130 नये मामले सामने आए हैं। इसके बाद राज्य में संक्रमित मरीजों की संख्या संख्या 10 हजार 371 हो गई है। वहीं, प्रदेश में कोरोना से अब तक 436 लोगों की मौत हो चुकी है।    इंदौर के मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. एमपी शर्मा ने शुक्रवार को बताया कि एमजीएम मेडिकल कॉलेज द्वारा गुरुवार देर रात 3110 सेम्पलों की जांच रिपोर्ट जारी की गई, जिनमें 50 रिपोर्ट पॉजिटिव और शेष निगेटिव आई हैं। इन नये 50 मामलों के साथ जिले में अब संक्रमित मरीजों संख्या 3972 हो गई है। वहीं, इंदौर में एक 69 वर्षीय संक्रमित महिला की मौत की भी पुष्टि हुई है। इसके बाद यहां कोरोना से मरने वालों की संख्या 164 हो गई है।   भोपाल के सीएमएचओ डॉ. प्रभाकर तिवारी ने शुक्रवार को बताया कि गुरुवार देर रात 1289 सेम्पलों की जांच रिपोर्ट में 70 नये मामले सामने आए हैं। इसके बाद यहां संक्रमित मरीजों की संख्या 2082 हो गई है। वहीं, भोपाल में चार लोगों की कोरोना से मौत की पुष्टि हुई है। अब यहां कोरोना से मरने वालों की संख्या 69 हो गई है। इसके अलावा उज्जैन में कोरोना के 10 नये मामले सामने आए हैं।   इन 130 नये मामलों के साथ राज्य में संक्रमित मरीजों की कुल संख्या बढक़र 10,241 से बढक़र 10,341 हो गई है। इनमें सबसे अधिक इंदौर में 3972, भोपाल 2082, उज्जैन 769, खंडवा 274, बुरहानपुर 379, जबलपुर 283, खरगौन 212, धार 131, ग्वालियर 233, नीमच 356, मंदसौर 95,  सागर 242, मुरैना 139, देवास 146, रायसेन 78,  भिंड 110, बड़वानी 62, होशंगाबाद 37, रतलाम 85, रीवा 38, विदिशा 37, बैतूल 36, सतना 22, छतरपुर 41, डिंडौरी 29, दमोह 27, आगरमालवा 15, झाबुआ 14, अशोकनगर 40, शाजापुर 38, सीधी 17, सिंगरौली 12, दतिया 20, शहडोल 13, बालाघाट 12, श्योपुर 54, शिवपुरी 20, टीकमगढ़ 19, छिंदवाड़ा 30, नरिसंहपुर 18, सीहोर 11, उमरिया 10, पन्ना 21, अलीराजपुर 03, अनूपपुर 26, हरदा 04, राजगढ़ 39, गुना 09, मंडला 05, सिवनी 02 और कटनी 04 मरीज शामिल हैं।     इंदौर-भोपाल में हुई पांच मौतों की पुष्टि के बाद राज्य में कोरोना से मरने वालों की संख्या 436 हो गई है। मृतकों में सबसे अधिक इंदौर के 164, भोपाल 69, उज्जैन 64, बुरहानपुर 20, खंडवा 17, जबलपुर 11, खरगौन 13, ग्वालियर 02, धार 04, मंदसौर 09, नीमच 05, सागर 13, देवास 09, रायसेन 03, होशंगाबाद 03, सतना 02, आगरमालवा 01, झाबुआ 01, अशोकनगर 01, शाजापुर 03, दतिया 01, छिंदवाड़ा 02, सीहोर 02, उमरिया 01, रतलाम 04, बड़वानी 02 मुरैना 01, राजगढ़ 03, श्योपुर 02, टीमकगढ़ 01, रीवा 01 और मंडला का एक व्यक्ति शामिल है। हालांकि, प्रदेश में 7042 मरीज स्वस्थ हो चुके हैं। अब प्रदेश में कोरोना के सक्रिय प्रकरण 2768 हैं।  

Dakhal News

Dakhal News 12 June 2020


bhopal,Minister Dr. Mishra, discussed with industrialists , employment promotion

गृह, लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि कोविड-19 के बाद उत्पन्न हालातों में अधिकतम लोगों को  रोजगार उपलब्ध कराना सरकार की प्राथमिकता है। अत: सभी उद्योगपति अपने कार्य क्षेत्र में अधिक से अधिक लोगों को रोजगार उपलब्ध करावें। डॉ. मिश्रा आज अपने निवास पर रोजगार संवर्धन को लेकर उद्योगपतियों से चर्चा कर रहे थे। मंत्री डॉ. मिश्रा के आव्हान पर उपस्थित सभी उद्योगपतियों ने ज्यादा से ज्यादा लोगों को रोजगार दिये जाने पर सहमति दी। डॉ. मिश्रा ने कहा कि अधिकतम जरूरतमंदों को रोजगार की उपलब्धता सुनिश्चित करने को दृष्टिगत रखते हुए उद्योगपतियों से चर्चा की है। ज्यादा से ज्यादा लोगों को रोजगार उपलब्ध हो, इस पर सभी  उद्योगपतियों ने सहमति देते हुए कहा कि वे अपने-अपने क्षेत्रों में अधिकतम लोगों को रोजगार उपलब्ध कराने का प्रयास करेंगे। उद्योगपतियों ने कहा कि  रोजगार सर्जन के नए कार्य भी प्रारंभ करेंगे ताकि और अधिक लोगों को कार्य मिल सके।  बैठक में सुनील बंसल, राजीव अग्रवाल, मनोज मोदी, अमरजीत सिंह, एन. एल. गुर्जर, अनिरुद्ध चौहान,  डॉ. राहुल खरे, बीएस यादव, डॉ. उमेश शारदा, सुरेंद्र मित्तल और प्रदीप मित्तल मौजूद रहे।  

Dakhal News

Dakhal News 12 June 2020


bhopal,Kamal Nath, retort, Shivraj tweet , biggest ungodly , themselves religious

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने गुरुवार को दोपहर में ट्वीट कर कहा कि ‘पापियों का विनाश तो पुण्य का काम है।’ इस पर पूर्व मुख्यमंत्री और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने पलटवार किया है। उन्होंने ट्वीट का जवाब ट्वीट से देते हुए कहा है कि खुद को धर्मप्रेमी बताने वाले ही सबसे बड़े अधर्मी हैं।   पूर्व सीएम कमलनाथ ने गुरुवार को ट्वीट करते हुए कहा है कि ‘कुछ लोग खुद को बड़ा धर्मप्रेमी बताते हैं, खूब ढोंग करते हैं, लेकिन सच्चाई यह है कि ये ही लोग सबसे बड़े अधर्मी, पापी हैं।’ उन्होंने लिखा है कि -‘जनता के धर्म यानि जनादेश को नहीं मानते हुए उसका अपमान करने वाले धर्म प्रेमी कैसे? धोखा, फरेब, साजिश, खरीद-फरोख्त, षड्यंत्र, प्रलोभन, ये आचरण तो धर्म कभी नहीं सिखाता?’ उन्होंने अगले ट्वीट में लिखा है कि - ‘ एक समय जिन्हें पापी बताते थे, आज वो ही संगी साथी है। कोई नियत-नीति नहीं, नैतिकता नहीं, कोई सिद्धांत नहीं, यह धर्म की राह कैसे?   बता दें कि कमलनाथ सरकार को गिराने को लेकर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के गत दिवस एक ऑडियो वायरल होने के बाद वे कांग्रेस के निशाने पर आ गए थे। इसके बाद उन्होंने गुरुवार को दोपहर में एक ट्वीट किया, जिसमें उन्होंने लिखा कि -‘पापियों का विनाश तो पुण्य का काम है। हमारा धर्म तो यही कहता है। क्यों? बोलो, सियापति रामचंद्र की जय!’ इसी ट्वीट को लेकर कमलनाथ ने शिवराज सिंह चौहान पर पलटवार किया है।   इसके साथ ही कमलनाथ ने शराब दुकानों पर आबकारी विभाग की महिला अधिकारियों को बैठाने को लेकर भी राज्य सरकार पर निशाना साधा है। उन्होंने ट्वीट कर कहा है कि - ‘शिवराज जी, आप जब विपक्ष में थे तो प्रदेश में शराब को लेकर खूब विरोध करते थे, खूब भाषण देते थे, शराब को बहन-बेटियों के लिये खतरा बताते हुए उनको साथ लेकर धरने पर बैठते थे, लेकिन अब तो आपने बहन-बेटियों को ही शराब की दुकानो पर बैठा दिया? इससे शर्मनाक व दोहरा चरित्र कुछ नहीं हो सकता है?’  

Dakhal News

Dakhal News 11 June 2020


indore, bhopal,rat finds a cindi,opens the Bajajkhana, Kailash Vijayvargiya

भोपाल/इंदौर। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के ऑडियो को लेकर प्रदेश में कांग्रेस हमलावर है और भाजपा को घेरने में जुटी हुई है। इसी बीच भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय का एक बयान सामने आया है। उन्होंने इस ऑडियो को पूरी तरह मैन्युफेक्चर बताते हुए कहा है कि चूहे को चिन्दी मिल जाती है तो वो बजाजखाना खोल लेता है। इस दौरान उन्होंने दावा किया है कि राज्य में होने वाले उपचुनावों में भाजपा सभी 24 सीटें जीतेगी।   बता दें कि सीएम शिवराज का बुधवार को ऑडियो वायरल हुआ था, जिसमें वे खुलासा कर रहे हैं कि पार्टी हाईकमान के निर्देश पर ज्योतिरादित्य सिंधिया और तुलसीराम सिलावट की मदद से कमलनाथ सरकार गिराई। इसके बाद वे कांग्रेस के निशान पर आ गए। पूर्व सीएम कमलनाथ से लेकर सभी कांग्रेस नेता उनके ऑडियो को लेकर उन पर हमले कर रहे हैं। इसी बीच कैलाश विजयवर्गीय ने गुरुवार को इंदौर में मीडिया से बात में कहा कि ऑडियो पूरी तरह से मैन्युफेक्चर है।    उन्होंने कहा कि पार्टी में कोई भी काम हाईकमान से पूछकर ही किया जाता है। कांग्रेस इस मामले को तूल देकर भाजपा की छवि खराब करना चाहती है, लेकिन ऐसा होगा नहीं। कांग्रेस के एक नेता है जिनकी आदत है, चूहे को चिंदी मिल जाती है तो वो बजाजखाना खोल लेता है। विजयवर्गीय ने कहा है कि यह सब उपचुनाव के लिए हो रहा है, लेकिन मैं दावे के साथ कहता हूं कि भाजपा सभी 24 सीटों पर जीत हासिल करेगी।   पत्रकारों द्वारा पूछा गया कि कांग्रेस इस मामले को लेकर सुप्रीम कोर्ट जाने की बात कह रही है। इस पर उन्होंने कहा कि जिसको जहां जाना है जा सकते हैं। कांग्रेस के लोग इसके लिए स्वतंत्र हैं। वहीं, राजस्थान में चल रही सियासी उठापटक को लेकर भी उन्होंने कांग्रेस पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि उन्हें अपने पार्टी नेतृत्व पर ही विश्वास नहीं है। राहुल की बयानबाजी से लोग परेशान हैं और वे पार्टी छोडक़र भाग रहे हैं। कांग्रेस अगर अपनी पार्टी के विधायकों को ही नहीं संभाल सकती है तो इसके लिए किसी दूसरे को दोषी ठहराना गलत है।

Dakhal News

Dakhal News 11 June 2020


bhopal, Destruction of sinners, work of virtue, CM Shivraj

भोपाल। मध्यप्रदेश में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का ऑडियो-वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें उन्होंने खुलासा किया है कि पार्टी हाईकमान के निर्देश पर ज्योतिरादित्य सिंधिया और तुलसीराम सिलावट की मदद से कमलनाथ सरकार गिराई थी। इसके बाद वे कांग्रेस के निशान पर आ गए। पूर्व सीएम कमलनाथ से लेकर सभी कांग्रेस नेता उनके ऑडियो-वीडियो को लेकर उन पर हमले कर रहे हैं। इसी बीच सीएम शिवराज के एक ट्वीट कर राजनीतिक सरगर्मियां बढ़ा दी हैं।    मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने गुरुवार दोपहर में एक ट्वीट किया है, जिसमें उन्होंने लिखा है कि -‘पापियों का विनाश तो पुण्य का काम है। हमारा धर्म तो यही कहता है। क्यों? बोलो, सियापति रामचंद्र की जय!’ इस ट्वीट के बाद राजनीतिक गलियारों में हलचल मच गई है। राजनीति के जानकार इसे विपक्षी पार्टी कांग्रेस के नेताओं द्वारा किये जा रहे हमलों का जवाब मान रहे हैं।    गौरतलब है कि बुधवार को सीएम शिवराज का एक ऑडियो और वीडियो वायरल हुआ था, जिसमें उन्होंने यह स्वीकार किया कि पार्टी हाईकमान के निर्देश पर कांग्रेस की कमलनाथ सरकार गिराई गई थी। हालांकि, इस ऑडियो और वीडियो की सत्यता की पुष्टि नहीं हुई है, लेकिन इसको लेकर कांग्रेस ने सीएम शिवराज का घेराव शुरू कर दिया। गुुरुवार को भी वरिष्ठ कांग्रेस नेता एवं पूर्व नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह और पूर्व मंत्री सज्जन सिंह वर्मा ने इस मामले को लेकर प्रेस को संबोधित किया। इसके बाद सीएम का यह ट्वीट आया। इसीलिए इसे कांग्रेस के हमले का पलटवार बताया जा रहा है।  

Dakhal News

Dakhal News 11 June 2020


j&k, Another terrorist killed , Shopian encounter, four killed

शोपियां। शोपियां जिले के सुगू इलाके में बुधवार सुबह से सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच चल रही मुठभेड़ में सुरक्षाबलों ने दोपहर में एक और आतंकी को मार गिराया है। इसके साथ ही इस मुठभेड़ में अब तक मारे जाने वाले आतंकियों की संख्या चार पहुंच गई है। माना जा रहा है कि अभी भी दो और आतंकी सुरक्षाबलों के घेरे में फंसे हुए है जिन्हें मार गिराने के लिए मुठभेड़ जारी है।   शोपियां जिले के सुगू इलाके में सुरक्षाबलों को आतंकियों के छिपे होेने की सूचना मिली। सूचना मिलने के आधार पर सेना की 44 आरआर, पुलिस और सीआरपीएफ के जवानों ने आतंकियों की धर-पकड़ के लिए सयुक्त तलाशी अभियान चलाया। तलाशी अभियान के दौरान आतंकियों ने सुरक्षाबलों को पास आते देख गोलीबारी शुरू कर दी जिसके बाद मुठभेड़ शुरू हो गई। इस मुठभेड़ में सुरक्षाबलों ने चार आतंकियों को मार गिराया है। माना जा रहा है कि अभी भी दो और आतंकी सुरक्षाबलों के घेरे में फंसे हुए है जिन्हें मार गिराने के लिए अभियान जारी है।   इस सप्ताह में शोपियां जिले में यह तीसरी मुठभेड़ है। रविवार व सोमवार को भी सुरक्षाबलों ने शोपियां जिले के रेबन तथा पिंजोरा गांव में हिजबुल मुजाहिदीन के कमांडर सहित नौ आतंकियों को मार गिराया था।

Dakhal News

Dakhal News 10 June 2020


bhopal, Computer Baba, conspiracy ,kill me , written , Chief Secretary , sought security

भोपाल। मध्यप्रदेश में कमलनाथ सरकार के दौरान नर्मदा समेत नदी न्यास के अध्यक्ष रहे संत कम्प्यूटर बाबा ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान पर गंभीर आरोप लगाए हैं। उन्होंने कहा है कि मेरी हत्या की साजिश हो रही है। इसके लिए उन्होंने मुख्य सचिव को पत्र लिखकर सुरक्षा की मांग की है।   हमेशा विवादों में रहे कम्प्यूटर बाबा ने बुधवार को भोपाल में प्रेसवार्ता को संबोधित करते हुए कहा कि नर्मदा नदी में रेत का अवैध उत्खनन हो रहा है। मां नर्मदा की रक्षार्थ हमने कई रेत माफियाओं पर कड़ी कार्यवाही की, जिसके फलस्वरूप माफियाओं से हमारी जान को खतरा है, किन्तु मध्यप्रदेश सरकार ने हमारी एक्स श्रेणी की सुरक्षा हटा दी। एक तरफ देश मे संतों की हत्याएं की जा रही है और दूसरी तरफ उक्त विषय पर घडिय़ाली आंसू बहाने वाली भाजपा सरकार संतो की सुरक्षा के साथ खिलवाड़ कर रही है। अब मेरी हत्या की साजिश हो रही है। अगर मेरी हत्या होती है तो इसके लिए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह की सरकार जिम्मेदार होगी।   उन्होंने मीडिया को एक पत्र दिखाया, जो कि उन्होंने मुख्य सचिव के नाम लिखा है। उन्होंने कहा है कि मैंने प्रदेश के सचिव मुख्य को पत्र लिखकर सुरक्षा देने का आग्रह किया है, जिससे हम मां नर्मदा की सेवा बिना किसी रुकावट कर सकें। इस पत्र में उन्होंने सुरक्षा की मांग की है। वहीं, भाजपा में जाने के सवाल पर उन्होंने कहा कि में बीजेपी में कभी नहीं जाऊंगा।

Dakhal News

Dakhal News 10 June 2020


bhopal,Scindia missing, banners, Sadhana Singh

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की पत्नी साधना सिंह चौहान का बुधवार को जन्मदिन है। इस अवसर पर उन्हें बधाई और शुभकामाएं देने के लिए उनके समर्थकों द्वारा राजधानी भोपाल में जगह-जगह होर्डिंग और बैनर लगाए गए हैं। इसके अलावा अखबारों में भी विज्ञापन दिये गये हैं। इन बैनर-पोस्टरों और विज्ञापनों में सभी बड़े भाजपा नेताओं की तस्वीर छापी गई है, लेकिन हाल ही में कांग्रेस छोड़ भाजपा में आए पूर्व केन्द्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया को इनमें जगह नहीं दी गई है।   साधना सिंह के जन्मदिन पर भोपाल में जगह-जगह होर्डिंग और बैनर लगे हुए हैं, जिनमें प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह, पार्टी अध्यक्ष जेपी नड्डा समेत सभी दिग्गज और प्रदेश के नेताओं की तस्वीर छापी गई है, लेकिन उनमें सिंधिया की तस्वीर गायब है। इसको लेकर कांग्रेस ने फिर भाजपा पर निशाना साधा है। कांग्रेस के मीडिया समन्वयक नरेन्द्र सलूजा ने तंज कसते हुए कहा है  कि -माफ करो महाराज-अब हमारे नेता शिवराज। सलूजा ने कहा कि जो समर्थक कहते थे कि उनकी एक आवाज पर कुछ भी कर जाएंगे, उन्होंने ही उन्हें भुला दिया।

Dakhal News

Dakhal News 10 June 2020


bhopal, Scindia, his mother ,hospitalized ,after showing signs of corona

भोपाल/नई दिल्ली। मध्यप्रदेश में इन दिनों विधानसभा की 24 रिक्त सीटों के लिए होने वाले उपचुनावों की तैयारियां जोर-शोर से चल रही हैं। भाजपा और कांग्रेस दोनों ही पार्टियां इन सीटों को जीतने के लिए जोर-आजमाइश में जुटी हुई हैं। ऐसे में भाजपा के वरिष्ठ नेता और पूर्व केन्द्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया कोरोना संक्रमित हो गए हैं। बताया जा रहा है कि उन्हें दिल्ली के एम्स अस्पताल में भर्ती किया गया है, जहां उनका उपचार जारी है। उनके साथ उनही मां माधवी राजे सिंधिया भी कोरोना संक्रमित हो गई हैं। अस्पताल प्रबंधन ने दोनों को कोरोना संक्रमित होन के बाद अस्पताल में भर्ती होने की पुष्टि की है।   बता दें कि कांग्रेस छोड़ भाजपा में आने के बाद ज्योतिरादित्य सिंधिया प्रदेश में होने वाली 24 सीटों पर उपचुनाव की तैयारियों में जुटे थे। वे लॉकडाउन के दौरान दिल्ली में ही थे। वे लॉकडाउन खुलने के बाद ग्वालियर आने की तैयारियों में जुटे थे, ताकि यहां आकर उपचुनाव का काम संभाल सकें। लेकिन मंगलवार को जानकारी मिली है कि एक दिन पहले उनकी तबियत खराब होने पर उन्हें दिल्ली के मैक्स अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जहां उनके सेम्पल लेकर जांच की गई, जिसमें वे और उनकी मां दोनों की कोरोना संक्रमित पाये गये। फिलहाल दोनों अस्पताल में भर्ती हैं और उनका उपचार चल रहा है। जानकारी मिली है कि सिंधिया और उनकी मां माधवी राजे सिंधिया के कोरोना संक्रमित पाये जाने के बाद उनके पूरे परिवार की स्वास्थ जांच की जा रही है और यह पता लगाया जा रहा है कि वे कैसे इसकी चपेट में आ गए।  

Dakhal News

Dakhal News 9 June 2020


bhopal, Vivek Tankha, targets Shivraj government, decision, liquor sale

भोपाल। मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल समेत इंदौर और उज्जैन जिले में मंगलवार से शराब की दुकानें खुलने जा रही है। हाईकोर्ट के निर्देश पर शराब ठेकेदारों द्वारा लायसेंस सरेंडर करने के बाद अब इन शराब दुकानों का संचालन आबकारी विभाग द्वारा किया जाएगा। इस संबंध में सोमवार देर शाम को शासन ने आदेश भी जारी कर दिया है। शराब बिक्री को लेकर सरकार के इस फैसले पर कांग्रेस हमलावर हो गई है। वरिष्ठ कांग्रेस नेता और राज्यसभा सांसद विवेक तन्खा ने इस पूरे मामले को लेकर सरकार पर निशाना साधा है।    विवेक तन्खा ने मंगलवार को ट्वीट कर सरकार पर बड़ा हमला किया है। उन्होंने कहा है कि सरकारी कर्मियों से शराब दुकानें चलवाना अकल की बात नहीं, यह सरकारी तंत्र को भ्रष्ट बनाने का एक न्योता है। उन्होंने ट्वीट कर कहा ‘सरकारी हट का एक स्वरूप आबकारी विभाग। शासकीय कर्मचारियों के द्वारा शराब की दुकान चलवाना कोई अकल की बात नहीं। तंत्र को भ्रष्ट बनाने एक और न्योता। बाद में हानि की वसूली निरस्त लायसेन्सी से होगी। भ्रष्टाचार को एक और न्योता। सीएम शिवराज पर अफ़सरशाही पूरी तरह हावी।    उल्लेखनीय है कि प्रदेश सरकार की नई शराब नीति से नाराज ठेकेदारों ने अपनी मांगे पूरी नहीं होने पर हाईकोर्ट में याचिका दायर की थी। जहां कोर्ट ने सुनवाई करते हुए कहा था कि जिन ठेकेदारों को नई नीति मंजूर नहीं है वह अपनी दुकान सरेंडर कर सकते हैं। हाईकोर्ट के आदेश के बाद कई ठेकेदारों ने अपनी शराब दुकानें सरेंडर कर दी थी। जिन्हें अब आबकारी विभाग द्वारा नए टेंडर होने तक संचालित किया जाएगा। 

Dakhal News

Dakhal News 9 June 2020


bhopal, Board examinations, MP, remaining papers ,started ,after thermal screening

भोपाल। एमपी बोर्ड के बचे हुए पेपरों की परीक्षाएं मंगलवार सुबह से प्रदेश में शुरू हुंईं। परीक्षा 16 जून तक चलेगी। इस परीक्षा में शामिल हो रहे प्रदेशभर के करीब साढ़े 8 लाख छात्रों के लिए 4 हजार केंद्र बनाए गए हैं। राजधानी भोपाल में भी इस परीक्षा के लिए 97 केंद्रं बनाए गए हैं। मंगलवार को छात्र-छात्राएं परीक्षाएं शुरू होने के एक से डेढ़ घंटे पहले ही परीक्षा केंद्र पर पहुंच गए।    मंगलवार सुबह विभिन्न परीक्षा केंद्रों पर परीक्षा देने आए छात्र-छात्राओं के चेहरे पर मास्क और हाथ में सैनिटाइजर की बोतल नजर आई। इस दौरान कुछ छात्र केंद्र में रोल नंबर नहीं मिलने के कारण परेशान भी होते दिखे। छात्र-छात्राओं को थर्मल स्क्रीनिंग करने के बाद ही केंद्र में प्रवेश दिया गया। परीक्षार्थियों को पहले एक लाइन में खड़ा किया गया, फिर उनकी स्क्रीनिंग की गई। कुछ छात्र पेपर देने बैग लेकर पहुंचे, तो स्कूल के अलग कमरे में बैग रखवा दिए गए। इसके साथ छात्रों को अगले पेपर में अपने साथ बैग नहीं लगाने की सलाह दी गई। बच्चों को सिर्फ सैनिटाइजर, ग्लब्ज, मास्क, पानी की बोतल और परीक्षा के लिए पेन आदि के रखने की ही अनुमति है।    परीक्षा के समय से काफी पहले आए छात्र-छात्राओं की स्कूल के गेट पर ही लाइन लगवाई गई। उनके हाथ सैनिटाइज कराने के बाद उनकी थर्मल स्क्रीनिंग की गई। शरीर का तापमान सामन्य आने के बाद ही उन्हें प्रवेश दिया। कोरोना लक्षण वाले छात्रों को सामान्य बच्चों से दूर दूसरे कमरों में बैठने की व्यवस्था भी की गई है। सोशल डिस्टेंसिंग समेत अन्य बातों का पालन करने के लिए सुरक्षा गार्ड और शिक्षकों द्वारा लगातार बच्चों को बताया गया।  वर्तमान में कोरोना पॉजिटिव छात्रों से लेकर क्वारैंटाइन में रह रहे और दिव्यांग छात्र अगर परीक्षा में शामिल नहीं हो पाते हैं, तो उनके लिए मंडल द्वारा विशेष परीक्षा आयोजित की जाएगी। अगर वह विशेष परीक्षा में शामिल होने के बाद किसी विषय में फेल हो जाते हैं, तो मंडल की हायर सेकेंडरी पूरक परीक्षा 2020 में सम्मिलित हो सकेंगे। कोरोना पॉजिटिव और क्वारैंटाइन छात्र को विशेष परीक्षा में सम्मिलित होने के लिए स्वयं और परिवार के सदस्य का डिस्चार्ज सर्टिफिकेट अथवा क्वारैंटाइन सर्टिफिकेट देना होगा।    एक घंटे पहले पहुंचना अनिवार्य छात्रों को पेपर शुरू होने से एक घंटे पहले परीक्षा केंद्र पर पहुंचना अनिवार्य है। परीक्षा केंद्र के अंदर जाने से पहले सभी की थर्मल स्क्रीनिंग की जाएगी। पहली शिफ्ट में पेपर देने वाले छात्रों को सुबह 8 बजे और दूसरी शिफ्ट में परीक्षा देने वाले छात्रों को दोपहर 1 बजे परीक्षा केंद्र पर पहुंचना होगा। परीक्षा केंद्र पर पहुंचने से लेकर परीक्षा देने के दौरान सभी छात्रों को अपने-अपने चेहरे को कवर रखना होगा और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना होगा।

Dakhal News

Dakhal News 9 June 2020


bhopal,  total 9724 infected , 416 deaths ,MP

भोपाल। मध्यप्रदेश में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। यहां अब सात जिलों में कोरोना के 86 नये मामले सामने आए हैं। इसके बाद राज्य में कोरोना संक्रमित मरीजों की कुल संख्या 9638 से बढक़र 9724 हो गई है। वहीं, प्रदेश में कोरोना से अब तक 416 लोगों की मौत हो चुकी है।    इंदौर के मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. एमपी शर्मा ने मंगलवार को बताया कि एमजीएम मेडिकल कॉलेज द्वारा सोमवार देर रात 2107 सेम्पलों की जांच रिपोर्ट जारी की गई, जिनमें 45 रिपोर्ट पॉजिटिव आई हैं। इसके बाद जिले में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 3830 हो गई है। वहीं, इंदौर में कोरोना से दो लोगों की मौत की भी पुष्टि हुई है। मृतकों में एक 62 वर्षीय पुरुष और 72 वर्षीय महिला शामिल है। यहां अब कोरोना से मरने वालों की संख्या 159 हो गई है। इसके अलावा, बुरहानपुर में 15, खरगौन में सात, उज्जैन में छह, देवास में चार, नीमच में चार और राजगढ़ में पांच नये पॉजिटिव मरीज मिले हैं।    इन 86 नये मामलों के साथ अब प्रदेश में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 9724 हो गई है। इनमें सबसे अधिक इंदौर में 3830, भोपाल 1822, उज्जैन 743, खंडवा 271, बुरहानपुर 374, जबलपुर 272, खरगौन 205, धार 128, ग्वालियर 211, नीमच 344, मंदसौर 95,  सागर 229, मुरैना 126, देवास 136, रायसेन 72, भिंड 104, बड़वानी 59, होशंगाबाद 37, रतलाम 61, रीवा 36, विदिशा 37, बैतूल 35, सतना 22, छतरपुर 41, डिंडौरी 29, दमोह 26, आगरमालवा 15, झाबुआ 13, अशोकनगर 16, शाजापुर 38, सीधी 17, सिंगरौली 12, दतिया 11, शहडोल 13, बालाघाट 07, श्योपुर 48, शिवपुरी 17, टीकमगढ़ 15, छिंदवाड़ा 18, नरिसंहपुर 17, सीहोर 11, उमरिया 10, पन्ना 21, अलीराजपुर 03, अनूपपुर 24, हरदा 03, राजगढ़ 33, गुना 07, मंडला 05, सिवनी 02 और कटनी के तीन मरीज शामिल हैं।    इंदौर में हुई दो मौतों के बाद राज्य में कोरोना से मरने वालों की संख्या 416 हो गई है। मृतकों में सबसे अधिक इंदौर के 159, भोपाल 64, उज्जैन 64, बुरहानपुर 18, खंडवा 17, जबलपुर 10, खरगौन 13, ग्वालियर 02, धार 04, मंदसौर 09, नीमच 05, सागर 12, देवास 09, रायसेन 03, होशंगाबाद 03, सतना 02, आगरमालवा 01, झाबुआ 01, अशोकनगर 01, शाजापुर 01, दतिया 01, छिंदवाड़ा 01, सीहोर 02, उमरिया 01, रतलाम 04, बड़वानी 01 मुरैना 01, राजगढ़ 03, श्योपुर 02, टीमकगढ़ 01 और मंडला का एक व्यक्ति शामिल है। हालांकि, राज्य में अब तक 6536 मरीज पूरी तरह स्वस्थ होने के बाद अपने घर जा चुके हैं। अब प्रदेश में कोरोना के सक्रिय प्रकरण 2774 हैं।  

Dakhal News

Dakhal News 9 June 2020


j&k, pulwama, Three Jaish-e-Mohammed terrorists, recovered arms , ammunition, Pulwama encounter

पुलवामा। पुलवामा जिले के कंगन क्षेत्र में बुधवार सुबह आतंकियों तथा सुरक्षाबलों के बीच हुई मुठभेड़़ में सुरक्षाबलों ने तीन आतंकियों को मार गिराया है। आतंकियों के शवों के साथ भारी मात्रा में हथियार व गोला-बारूद बरामद हुआ है। क्षेत्र में सुरक्षाबलों द्वारा फिलहाल तलाशी अभियान जारी है। मारे गए सभी आतंकी जैश-ए-मोहम्मद संगठन से संबंधित हैं। फिलहाल इन आतंकियों की पहचान नहीं हो सकी है। वहीं मुठभेड़ के दौरान हिंसक प्रदर्शनों की आशंका के चलते प्रशासन ने जिले में मोबाइल इंटरनेट सेवा को बंद कर दिया है।   जानकारी के अनुसार बुधवार तड़के जिले के कंगन के अंतर्गत अस्तान मोहल्ला में आतंकियों की मौजूदगी की गुप्त सूचना प्राप्त हुई। सूचना मिलते ही सेना की 55 आरआर, सीआरपीएफ 183 बटालियन तथा एसओजी की एक संयुक्त टीम ने पूरे क्षेत्र की घेराबंदी करके तलाशी अभियान शुरू किया। तलाशी अभियान के दौरान क्षेत्र में छिपे आतंकियों ने सुरक्षाबलों को पास आते देख गोलीबारी की, जिसके बाद मुठभेड़ शुरू हो गई। इस मुठभेड़ में सुरक्षाबलों तीनों आतंकियों को मार गिराया है। क्षेत्र में फिलहाल अन्य आतंकियों की संभावना के चलते तलाशी अभियान जारी है।   वहीं जम्मू कश्मीर पुलिस के डीजीपी दिलबाग सिंह ने भी पुलवामा मुठभेड़ की पुष्टि करते हुए कहा कि जैश-ए-मोहम्मद के तीनों आतंकी मार गिराए गए हैं, जबकि इस दौरान हथियार तथा गोला-बारूद भी बरामद किया गया है।  

Dakhal News

Dakhal News 3 June 2020


bhopal, Kailash Vijayvargiya, got responsibility, by-election, Home Minister

भोपाल। मध्य प्रदेश में 24 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव होने हैं। उपचुनाव के लिए भाजपा ने तैयारी शुरु कर दी है। 24 सीटों पर होने वाले उपचुनाव में मालवा-निमाड़ की पांच सीटों की जिम्मेदारी भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय संभालेंगे। साथ ही राज्यसभा चुनाव की तीनों सीटों पर भी नजर रखेंगे। कैलाश विजयवर्गीय को उपचुनाव की जिम्मेदारी सौंपे जाने पर गृह एवं स्वास्थ्य मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने बड़ा बयान दिया है।    गृह एवं स्वास्थ्य मंत्री डॉ नरोत्तम मिश्रा ने बुधवार को मीडिया से बातचीत करते हुए कैलाश विजयवर्गीय को मप्र उपचुनाव में दी गयी जिम्मेदारी पर कहा है कि वह हमारे राष्ट्रीय नेता हैं और पूरे प्रदेश से लेकर पश्चिम बंगाल तक जहां भी उनकी जरुरत होगी पार्टी के बड़े नेता होने के नाते कैलाश विजयवर्गीय सभी जगहों की जिम्मेदारी संभालेंगे। वहीं मंत्रिमंण्डल विस्तार को लेकर सीएम से मिल रहे विधायकों को लेकर मंत्री मिश्रा ने कहा है कि शिवराज स्थापित नेता हैं, 15 साल से मुख्यमंत्री हैं, उनसे विधायक मिलते ही रहते हैं। उन्होंने कहाकि मुलाकात को किसी से भी जोड़ सकते हैं।     निसर्ग तूफान के लिए शासन -प्रशासन के स्तर पर सभी तैयार   निसर्ग तूफान की मध्य प्रदेश में दस्तक को लेकर गृह एवं स्वास्थ्य मंत्री डॉ नरोत्तम मिश्रा ने कहा है कि मौसम का निजाज़ शुरू से ही इस तरह का है। गर्मियों में कई बार बीच-बीच में बारिश आती रही है। वो निसर्ग की वजह से है या कोई पॉल्यूशन हटने की वजह से है या कोई अन्य कारण है ये शोध का विषय है। उन्होंने बताया कि निसर्ग तूफान से निपटने के लिए शासन और प्रशासन के स्तर पर सभी से बात की गई है। 

Dakhal News

Dakhal News 3 June 2020


bhopal, Prashant Kishore ,rejects Congress offer,  doesn

भोपाल। प्रदेश की 24 विधानसभा सीटों पर होने जा रहे उपचुनावों को लेकर सत्तारूढ़ भाजपा और विपक्षी कांग्रेस पार्टी दोनों ही कोई कसर नहीं छोड़ रही हैं। इसी बीच, एक ऐसी खबर आई है, जो अगर सच है तो उससे कांग्रेस की उम्मीदों को झटका लग सकता है। सूत्रों का कहना है कि चुनाव रणनीतिकार प्रशांत किशोर ने विधानसभा उपचुनाव के लिए कांग्रेस का प्रस्ताव ठुकरा दिया है।    मध्य प्रदेश के पूर्व मंत्री पीसी शर्मा ने मंगलवार को कहा था कि आने वाले उपचुनावों में कांग्रेस सभी 24 सीटें जीतने की तैयारी कर रही है।  इसके लिए पार्टी चुनाव रणनीतिकार प्रशांत किशोर के साथ बातचीत कर रही है। शर्मा ने कहा था कि प्रशांत किशोर पहले भी कांग्रेस के लिए काम कर चुके हैं। इसलिए उपचुनाव के दौरान विधानसभा क्षेत्रों का सर्वेक्षण और सोशल मीडिया कैम्पेनिंग की रणनीति पर वे काम कर सकते हैं। शर्मा ने कहा था कि प्रशांत किशोर कांग्रेस को उपचुनाव की सभी सीटें जिताने में मददगार हो सकते हैं। इसके बाद पीसी शर्मा की इस बात पर भाजपा विधायक रामेश्वर शर्मा ने हमला करते हुए कहा था कि प्रदेश की जनता कांग्रेस के 15 महीने के शासनकाल को देख चुकी है।  इन महीनों के दौरान कांग्रेस ने जनता से सिर्फ झूठे वादे किए।     इधर, कहा जा रहा है कि भाजपा, कांग्रेस समेत कई अन्य दलों के लिए चुनावी रणनीति बनाने वाले  प्रशांत किशोर ने मध्यप्रदेश में होने वाले विधानसभा उपचुनाव में कांग्रेस के लिए काम करने की बात से साफ इनकार कर दिया है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक उन्होंने कहा है कि पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ और कैप्टन अमरिंदर सिंह चौहान के कहने पर उन्होंने पार्टी के लिए पहले अपनी सेवाएं दी थीं। पंजाब और मध्यप्रदेश विधानसभा चुनावों के दौरान उन्होंने कांग्रेस की चुनावी रणनीति बनाने में मदद की थी,  लेकिन उपचुनावों को लेकर दिया गया यह ऑफर उन्हें मंजूर नहीं है। वे इस तरह टुकड़ों-टुकड़ों में काम नहीं कर सकते हैं। हालांकि अभी तक प्रदेश कांग्रेस के किसी नेता ने प्रशांत किशोर के इनकार की पुष्टि नहीं की है। 

Dakhal News

Dakhal News 3 June 2020


bhopal,Kamal Nath ,raised questions, decision , Shivraj government

भोपाल। प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री एवं कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने सोशल मीडिया के माध्यम से राज्य सरकार से कोरोना संकटकाल में उपभोक्ताओं को राहत देने के उद्देश्य से बिजली के तीन माह के बिल माफ करने की मांग की है। साथ ही उन्होंने राज्य सरकार के बिजली बिलों को लेकर लिये गये निर्णय पर सवाल भी उठाये हैं।   पूर्व सीएम कमलनाथ ने सोमवार को ट्वीट किया है कि - ‘कोरोना महामारी में खराब अर्थव्यवस्था को देखते हुए आज जरूरत है कि प्रदेश के सभी उपभोक्ताओं को छूट प्रदान करते हुए उनके तीन माह के बिजली के बिल पूरी तरह से माफ किये जाएं।’ उन्होंने अगले ट्वीट में लिखा है कि - ‘मांग के विपरीत राज्य सरकार द्वारा अजीबोगरीब निर्णय लिया गया कि किसी के इतने आये तो इतने भरना, इतने आये तो उतने भरना, बाकी हम जांच करेंगे, लेकिन बिल तो भरना पड़ेगा। फायदा भी सभी को नहीं, कोई माफी नहीं?’   उन्होंने अगले ट्वीट में लिखा है कि ‘उद्योग मांग कर रहे थे कि लॉकडाउन की अवधि के उनके फिक्स चार्ज से लेकर न्यूनतम यूनिट चार्ज, लाइन लॉस चार्ज, विलंब चार्ज सहित अन्य चार्ज में सरकार उन्हें छूट देकर ‘जितनी खपत उतना बिल’ प्रदान करे, लेकिन निर्णय सभी चार्जों में छूट का नहीं, सिर्फ फिक्स चार्ज की वसूली को अभी स्थगित का लिया गया, इसे भी बाद में भरना पड़ेगा।   कमलनाथ ने कहा है कि गरीब, छोटे व्यवसायी, प्रवासी मजदूर एकमुश्त 10 हजार रुपये के राहत पैकेज की मांग कर रहे हैं, लेकिन निर्णय लिया गया कि मजदूरों के पंजीयन होंगे, छोटे व्यवसायियों को 10 हजार रुपये तक का कर्ज बैंक से दिलवाया जाएगा। जब इस महामारी में काम नहीं, आमदनी नहीं, खाने को नहीं तो कर्ज कहां से भरेंगे?’ उन्होंने राज्य सरकार के निर्णय पर सवाल उठाते हुए कहा है कि यह सिर्फ शिवराज सरकार की आंकड़ों की बाजीगरी है, रियायत के नाम पर कुछ भी नहीं।’  

Dakhal News

Dakhal News 1 June 2020


bhopal, Allopathy Neither, Homeopathy, Most Effective, Sympathy, Minister Dr. Mishra

भोपाल। चिरायु अस्पताल में कोरोना संक्रमित 108 मरीजों के स्वस्थ होने और घर रवानगी पर अपनी शुभकामनाएँ देते हुए गृह, लोक स्वास्थ्य परिवार कल्याण मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने अपेक्षा जताई कि वे सभी समाज के लिये मिसाल बनेंगे। कोरोना को हराने में वे मार्गदर्शन करेंगे। मंत्री डॉ. मिश्रा ने कहा कि न एलोपैथी न हौम्योपैथी सबसे अधिक कारगर है सिम्पैथी। उन्होंने कहा कि कोरोना से डरने या घबराने की जरूरत नहीं है। आवश्यकता है सावधानी रखने की और कोरोना चक्र को तोड़ने की। उन्होंने चिरायु अस्पताल प्रबंधन, डॉक्टर्स, नर्सिंग स्टाफ सहित सभी कोरोना योद्धाओं की सराहना की। मंत्री डॉ. मिश्रा ने प्रसन्नता व्यक्त की कि चिरायु अस्पताल एक हजार से अधिक मरीजों को स्वस्थ कर सकुशल घर भेजने वाला देश का प्रथम अस्पताल बन गया है। मंत्री डॉ. मिश्रा ने कहा कि कोरोना असाध्य बीमारी नहीं है। हम सावधानी रखकर इसे आसानी से हरा सकते हैं। हमें कोरोना के मरीजों के उपचार के साथ ध्यान देने, उन्हें आराम देने और प्यार देने की जरूरत है। सबसे सरल और आसान उपाय अपनापन और प्यार के साथ बीमारी का उपचार करना है। कोरोना स्वयं कोई मारक रोग नहीं है। यह घातक तब हो जाता है, जब मरीज किसी अन्य बीमारी से भी ग्रसित हो। उन्होंने कोरोना पीड़ितों से अपने आत्मबल को मजबूत बनाने की अपील की, जिससे कोरोना को आसानी से हराया जा सके। मंत्री डॉ. मिश्रा ने चिरायु अस्पताल के सीएमडी डॉ. अजय गोयनका की सेवाओं की सराहना करते हुए कहा कि आज देश में ऐसा कोई अस्पताल नहीं है जहाँ इतनी अधिक संख्या में मरीजों के भर्ती होने के बाद एक प्रतिशत से भी कम की मृत्यु दर दर्ज की गई हो। उन्होंने कहा कि यह डॉ. गोयनका और उनकी टीम के निरंतर अथक परिश्रम का प्रतिफल है। भारतीय संस्कृति से टूटेगा कोरोना का चक्र मंत्री डॉ. मिश्रा ने कहा कि स्वयं खाना प्रकृति है, छीनकर खाना विकृति है, भूखे रहकर दूसरों को खिलाना हमारी संस्कृति है। कोरोना संक्रमण के दौरान जिस प्रकार से लोगों ने अपनी सेवाएँ दी हैं वह अकल्पनीय है। सभी ने हर स्तर पर हर संभव मदद की है। भारतीय संस्कृति से ही हम कोरोना को हराने में सफल हुए हैं। तुलसी की चाय हो या काली मिर्च का काढ़ा रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने का कारगर उपाय है। कोरोना का प्रभाव अब-तक गाँवों में असर नहीं दिखा पाया है। कोरोना का असर शहरी क्षेत्रों में ही दिखाई दिया है। यह सब भारतीय संस्कृति का प्रभाव है। मंत्री डॉ. मिश्रा ने कहा कि सावधानियाँ नहीं बरतने पर कोराना का असर हुआ है। गाँव में सावधानियाँ बरती जा रही हैं और कोरोना बेअसर हो रहा है। स्वस्थ लोगों ने बेहतर इलाज के लिये अस्पताल और सरकार का आभार माना   धनराज खंडेलवाल ने कोविड-19 से पीड़ित होने के बाद मध्यप्रदेश सरकार और चिरायु अस्पताल द्वारा उपचार के लिये की गई बेहतर व्यवस्थाओं के लिये आभार व्यक्त किया। रानी समतानी ने कहा कि वे जिन्दगी की जंग जीतने आई थीं और आज सरकार और डॉक्टरों की मदद से जंग जीतकर जा रही है। डॉ. नीतू सिंह ने भी अपने पिताजी के स्वस्थ होने पर धन्यवाद दिया।

Dakhal News

Dakhal News 1 June 2020


bhopal, 53 new cases,corona found, Indore ,43 in Bhopal

भोपाल/इंदौर। मध्यप्रदेश के दोनों हॉटस्पाट शहरों इंदौर और भोपाल में कोरोना के संक्रमित मरीजों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। इंदौर जिले में अब 53 और भोपाल में 43 नये कोरोना पॉजिटिव मरीज मिले हैं। वहीं, इंदौर में तीन लोगों की मौत की भी पुष्टि हुई है, जबकि भोपाल में भी एक व्यक्ति की कोरोना से मौत हो गई।    इंदौर के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी (सीएमएचओ) डॉ. एमपी शर्मा ने सोमवार को बताया कि एमजीएम मेडिकल कॉलेज द्वारा रविवार को देर रात 922 सेम्पलों की जांच रिपोर्ट जारी की गई, जिनमें 865 रिपोर्ट निगेटिव और 53 रिपोर्ट पॉजिटिव आई हैं। इन 53 नये मामलों के साथ अब इंदौर में कोरोना संक्रमित मरीजों की कुल संख्या 3539 हो गई है। इसके अलावा शहर में तीन लोगों की मौत की भी पुष्टि हुई है। इसके बाद इंदौर में कोरोना से मरने वालों की संख्या 135 हो गई है। हालांकि राहत की खबर यह है कि अब तक इंदौर में 1990 मरीज पूरी तरह स्वस्थ होकर अपने घर जा चुके हैं। अब शहर में एक्टिव प्रकरणों की संख्या 1414 हैं, जिनका विभिन्न अस्पतालों में उपचार जारी है।     वहीं, भोपाल के सीएमएचओ डॉ. प्रभाकर तिवारी ने बताया कि रविवार को देर रात जारी बुलेटिन में 43 नये मामले सामने आए हैं। इसके बाद शहर में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या बढक़र 1510 हो गई है। इसके अलावा एक व्यक्ति की मौत की भी पुष्टि हुई है और यहां कोरोना से मरने वालों की संख्या 58 हो गई है। हालांकि, अब तक शहर में 964 मरीज स्वस्थ हो चुके हैं। अब एक्टिव प्रकरणों की संख्या 488 है और उनका उपचार जारी है।  

Dakhal News

Dakhal News 1 June 2020


bhopal, corona infected , MP ,eight thousand, 346 died

भोपाल। मध्यप्रदेश में तमाम प्रयासों के बावजूद कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। यहां अब 97 नये मामले सामने आए हैं, जबकि तीन लोगों की मौत की पुष्टि हुई है। इसके साथ ही राज्य में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या आठ हजार के करीब पहुंच गई है। यह संख्या 7891 से 7988 हो गई है। प्रदेश में कोरोना से अब तक 346 लोगों की मौत हो चुकी है।    इंदौर के चिकित्सा अधिकारी डॉ. एमपी शर्मा ने रविवार को बताया कि एमजीएम मेडिकल कॉलेज द्वारा शनिवार को देर रात 975 सेम्पलों की जांच रिपोर्ट जारी की, जिनमें 882 रिपोर्ट निगेटिव और 55 पॉजिटिव आई हैं। इसके बाद जिले में कोरोना संक्रमित मरीजों की कुल संख्या 3486 हो गई है। वहीं, इंदौर में तीन कोरोना संक्रमित मरीजों की मौत की भी पुष्टि हुई है। मृतकों में दो 67 वर्षीय पुरुष और एक 65 वर्षीय महिला शामिल है। इसके साथ ही अब इंदौर में कोरोना से मरने वालों की संख्या 132 हो गई है। इसके अलावा अनूपपुर में 12, उज्जैन 10, नीमच 04, श्योपुर 05, पन्ना 05, मुरैना 04 और जबलपुर में दो नये कोरोना पॉजिटिव मरीज मिले हैं।   इन नये 97 मामलों के साथ राज्य में कोरोना संक्रमित मरीजों की कुल संख्या 7988 हो गई है। इनमें सबसे अधिक इंदौर में 3486, भोपाल 1422, उज्जैन 670, खंडवा 240, बुरहानपुर 297, जबलपुर 235, खरगौन 137, धार 123, ग्वालियर 120, नीमच 204, मंदसौर 92,  सागर 164, मुरैना 97, देवास 92, रायसेन 68,  भिंड 56, बड़वानी 43, होशंगाबाद 37, रतलाम 34, रीवा 35, विदिशा 20, बैतूल 23, सतना 21, छतरपुर 17, डिंडौरी 19, दमोह 19, आगरमालवा 13, झाबुआ 13, अशोकनगर 12, शाजापुर 09, सीधी 14, सिंगरौली 11, दतिया 08, शहडोल 10, बालाघाट 07, श्योपुर 14, शिवपुरी 10, टीकमगढ़ 09, छिंदवाड़ा 09, नरिसंहपुर 10, सीहोर 07, उमरिया 06, पन्ना 16, अलीराजपुर 03, अनूपपुर 17, हरदा 03, राजगढ़ 08, गुना 02, मंडला 04, सिवनी 02 और कटनी का एक मरीज शामिल है।    इंदौर में हुई तीन मौतों के बाद राज्य में कोरोना से मरने वालों की संख्या 346 हो गई है। मृतकों में सबसे अधिक इंदौर के 132, भोपाल 56, उज्जैन 56, बुरहानपुर 15, खंडवा 13, जबलपुर 09, खरगौन 11, ग्वालियर 02, धार 03, मंदसौर 08, नीमच 04, सागर 07, देवास 09, रायसेन 03, होशंगाबाद 03, सतना 02, आगरमालवा 01, झाबुआ 01, अशोकनगर 01, शाजापुर 01, दतिया 01, छिंदवाड़ा 01, सीहोर 01, उमरिया 01, रतलाम 01, बड़वानी 01 मुरैना 01, राजगढ़ 01 और मंडला का एक व्यक्ति शामिल है।    

Dakhal News

Dakhal News 31 May 2020


bhopal,CM Shivraj , give information ,lockdown 5.0

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान आज (रविवार) रात्रि 8 बजे टीवी चैनल्स के माध्यम से प्रदेश की जनता को संबोधित करेंगे। उनके संदेश का प्रसारण दूरदर्शन एवं सभी क्षेत्रीय न्यूज चैनल्स पर होगा।   दरअसल, कोरोना की रोकथाम के लिए लागू लॉकडाउन 4.0 रविवार को समाप्त हो रहा है और सोमवार, 01 जून से लॉकडाउन का स्वरूप क्या होगा, इसकी जानकारी देने के उद्देश्य से मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान आज दूरदर्शन पर प्रदेशवासियों से रूबरू होंगे। उम्मीद है कि लॉकडाउन 5.0 में लोगों को कुछ अधिक छूट मिल सकती है। नागरिकों से बात करने से पहले सीएम शिवराज दिनभर अधिकारियों के साथ बैठक करेंगे और लॉकडाउन 5.0 को लेकर सरकार जो भी निर्णय लेगी, उसकी जानकारी मुख्यमंत्री दूरदर्शन के माध्यम से प्रदेश की जनता को देंगे।  

Dakhal News

Dakhal News 31 May 2020


new delhi, PM Modi ,development ,eastern India , balanced economic development

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने रविवार को अपने मासिक रेडियो कार्यक्रम 'मन की बात' में कहा कि कोरोना संकट के दौरान यह सामने आया कि देश का पूर्वी भाग आर्थिक विकास से दूर रहा है, जिससे श्रमिकों को दूसरे राज्यों में जाकर काम करना पड़ रहा है। अब हमें पूर्वी भारत के विकास पर ध्यान देना है और साथ ही गांव, जिले और कस्बे को आत्मनिर्भर बनाकर देश को मजबूत बनाना है।  प्रधानमंत्री ने 'मन की बात' में कहा कि कोरोना संकट से हमें बहुत कुछ सिखने को मिला है। इससे सामने आया है कि पूर्वी भारत का विकास बहुत आवश्यक है। इससे ही संतुलित आर्थिक विकास संभव होगा। बीते वर्षों में इस दिशा में बहुत कुछ हुआ है और श्रमिकों की समस्या को देखते हुए यह बेहद जरूरी भी है। हमारे गांव, कस्बे और जिले आत्मनिर्भर होते तो आज हमारे सामने यह समस्यायें खड़ी न होती। उन्होंने कहा कि अब देश में आत्मनिर्भर भारत पर व्यापक मंथन शुरू हो गया है। वोकल फॉर लोकल को बढ़ावा मिल रहा है। देश में कई चीजें बाहर से आती हैं जिनका आसानी से विकल्प हम देश में ढूंढ सकते हैं और ऐसा करने के लिए अब हम तैयार हैं।   पीएम मोदी ने कहा कि कोरोना संकट अभी देश से टला नहीं है। तमाम सावधानियों के साथ अर्थव्यवस्था का एक बड़ा हिस्सा फिर से पटरी पर लौट आया है। ऐसे में मुंह पर मास्क लगाना, दो गज की दूरी और हाथ धोते रहने के नियम में कोई कोताही नहीं बरतनी चाहिए। दुनिया की ओर देखने पर पता चलता है कि कोरोना के खिलाफ भारत की लड़ाई अन्य देशों के मुकाबले अधिक मजबूत है। इस संकट के चलते नुकसान हुआ है जिसका हम सभी को दुख है लेकिन जो बचा पाए हैं वह सामूहिक शक्ति के चलते ही संभव हो पाया है।  प्रधानमंत्री ने कहा कि महामारी के समय भारतीयों की सेवा और त्याग की शक्ति सामने आई है। हमने बता दिया है कि सेवा केवल हमारा आदर्श नहीं है बल्कि हमारा स्वभाव है। दूसरे की सेवा करने वालों को कोई मानसिक तनाव व दुख नहीं आता है। वह हमेशा जीवंत रहते हैं। हमारे कोरोना वॉरियर सेवा कर रहे हैं और उनके जैसे कई लोग भी सेवा कर रहे हैं। प्रधानमंत्री ने कहा कि संकट से निपटने के लिए केवल सामूहिक प्रयास ही काफी नहीं होता बल्कि नवाचार भी जरूरी होता है। कोरोना महामारी पर जीत के लिए नवाचार एक बहुत बड़ा आधार है। उन्होंने कहा कि संकट की इस घड़ी में कई नवाचार प्रमुखता से सामने आये हैं।  कोरोना के चलते लगाए गए लॉकडाउन और उससे श्रमिक वर्ग के सामने आई दिक्कतों का जिक्र करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि इस वर्ग को सबसे ज्यादा परेशानियां उठानी पड़ी हैं जिनकी वेदना कही नहीं जा सकती। हम सब इसको बांटने का प्रयास करें। ऐसे में उन्हें घर तक पहुंचाने वाले रेलवे के कर्मचारी अग्रिम पंक्ति में खड़े कोरोना वारियर ही हैं। वह हजारों श्रमिकों को ले जा रहे हैं उनका टेस्ट कर रहे हैं, उन्हें यात्रा करा रहे हैं और क्वारेंटाइन कर रहे हैं।  अंतरराष्ट्रीय योग दिवस और आयुष मंत्रालय की प्रतियोगिता का जिक्र करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि योग कम्युनिटी, इम्युनिटी और यूनिटी के लिए योग बहुत अच्छा है। विश्व के नेताओं की योग और आयुर्वेद के प्रति दिलचस्पी बढ़ी है। योग दिवस भी आ रहा है। आज हॉलिवुड से हरिद्वार तक योग की साधना हो रही है। योग कोरोना से प्रभावित होने वाली हमारी स्वश्न प्रणाली को मजबूत बनाता है। उन्होंने कहा कि योग को बढ़ाने के लिए आयुष मंत्रालय ने माइलाइफ माई योग प्रतियोगिता शुरू की है। इसमें तीन मिनट का वीडियो बनाकर भेजना है और यह बताना है कि योग से क्या-क्या बदलाव हमारे जीवन में आए हैं।  आयुष्मान भारत योजना का जिक्र करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि इससे पेट भरने की समस्या से जूझ रहे आमजन को स्वास्थ्य सुविधाएं मिलनी आसान हो गई हैंं। आयुष्मान भारत योजना से नॉर्वे जैसे देशों से दोगुनी आबादी को इलाज दिया गया है। इससे गरीबों के 14 हजार करोड़ रुपये बचे हैं। इसमें पोर्टेबिलिटी की सुविधा है। बिहार का गरीब कर्नाटक में भी सुविधा ले सकता है। इस पुण्य का असली हकदार देश का ईमानदारी से टैक्स भरने वाला भी है। हाल ही में आए अम्फन तूफान का जिक्र करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि बंगाल और ओडिशा के लोगों ने मजबूती से इसका सामना किया है और पूरा देश उनके साथ खड़ा है। साथ ही उन्होंने टिड्डियों के हमले का भी जिक्र किया और कहा कि सरकार इससे निपटने के उपाय कर रहे हैं।  पांच जून के विश्व पर्यावरण दिवस का जिक्र करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि इस बार का दिवस जैव विविधता को समर्पित है। लॉकडाउन के दौरान सोशल मीडिया में पर्यावरण में आए सुधार पर ध्यान जाता है और हमें प्रकृति और जीवजन्तुओं के लिए कुछ करने की प्रेरणा देते हैं। उन्होंने लोगों से अनुरोध किया कि पर्यावरण दिवस पर पेड़ लगाएँ और कुछ ऐसा करें की प्रकृति से जुड़ें।  वर्षा के जल संग्रहण की अपील करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि इस वर्षा ऋतु में हम सभी को जल संरक्षण पर ध्यान देना चाहिए।  

Dakhal News

Dakhal News 31 May 2020


bhopal,  Kamal Nath, lock lockdown, everything is closed

भोपाल। मध्यप्रदेश में कोरोना संकट के बीच पूर्व सीएम और कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने सोशल मीडिया के माध्यम से शिवराज सिंह चौहान सरकार पर तंज कसा है। उन्होंने शुक्रवार को ट्वीट किया है, जिसमें उन्होंने लिखा है कि देशभर में कोरोना महामारी के इस लॉकडाउन में सब कुछ बंद है, लेकिन हमारे मध्यप्रदेश में शिवराज सरकार में इस लॉकडाउन में सब कुछ चालू है।   उन्होंने अगले ट्वीट में इस सब कुछ को विस्तार से बताया है। उन्होंने लिखा है कि हत्या, बलात्कार, गैंगरेप, भ्रष्टाचार, घोटाले, फर्जीवाड़े, किसानों की पिटाई, माफिया राज, शराब की दुकानें, चोरी, लूट, भूख से मौत और अब तो दो माह की सरकार में ही प्रदेश की नदियों से रेत का अवैध उत्खनन का कारोबार वापस जोरों पर, प्रदेश की नदियों को छलनी करने का काम एक बार फिर जोरों पर, रेत माफियाओं के हौसले बुलंद, खुला संरक्षण, जमकर अवैध वसूली....।  

Dakhal News

Dakhal News 29 May 2020


bhopal,Raj Bhavan, Containment Zone announced , Corona , Shivraj cabinet expansion

भोपाल। मध्यप्रदेश में मुख्मंत्री शिवराज सिंह चौहान आगामी एक 31 मई या एक जून को अपने मंत्रिमंडल का विस्तार कर सकते हैं, लेकिन इस पर कोरोना का संकट मंडरा रहा है। दरअसल, शुक्रवार सुबह तक राजभवन में कुल नौ कोरोना के संक्रमित मरीज मिल गए हैं, जिससे राजभवन समेत आसपास के क्षेत्र को जिला प्रशासन द्वारा कंटेनमेंट क्षेत्र घोषित कर दिया है। इसके चलते शिवराज मंत्रिमंडल के विस्तार पर संकट के बादल मंडराने लगे हैं।   जानकारी के मुताबिक, राजभवन में काम करने वाले एक कर्मचारी का बेटा दो दिन पहले कोरोना संक्रमित पाया गया था। इसके बाद अन्य लोगों की स्वास्थ्य जांच कर सेम्पल भेजे गए थे। इनमें से गुरुवार को आई रिपोर्ट में राजभवन के छह और कर्मचारी पाजिटिव पाए गए थे, जबकि शुक्रवार को एक और कर्मचारी संक्रमित पाया गया है। इसके साथ ही अब राजभवन में कुल नौ लोग कोरोना संक्रमित हो गए हैं। जिला प्रशासन ने राजभवन और आसपास के क्षेत्र को कंटेनमेंट क्षेत्र घोषित कर यहां के लोगों को क्वारेंटाइन कर दिया है और इस क्षेत्र में आवागमन प्रतिबंधित किया गया है।     इस वजह से शिवराज मंत्रिमंडल के विस्तार पर संशय पैदा हो गया है। बताया जा रहा है कि शिवराज मंत्रिमंडल के विस्तार की तैयारियां अंतिम दौर में पहुंच गई हैं। पार्टी नेताओं का मानना है कि 30 मई को मोदी सरकार के एक वर्ष का कार्यकाल पूरा हो रहा है, इसलिए 31 मई या फिर जून को सीएम शिवराज अपने मंत्रिमंडल विस्तार कर सकते हैं। इसी बीच राजभवन में कोरोना संक्रमित मरीजों के मिलने से अब मंत्रिमंडल विस्तार खतरे में पड़ गया है। ऐसे में अटकलें लगनी शुरू हो गई हैं कि या तो मंत्रिमंडल का विस्तार 14 दिन के लिए आगे बढ़ाया जाए या फिर परंपरा से हटकर अन्य जगह शपथ ग्रहण समारोह आयोजित किया जाए।    फिलहाल, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान या राज्य सरकार की तरह से कोई आधिकारिक जानकारी नहीं मिल पाई है, लेकिन पार्टी सूत्रों के मुताबिक मंत्रिमंडल विस्तार की सभी तैयारियां अंतिम चरण में पहुंच गई हैं।   

Dakhal News

Dakhal News 29 May 2020


indore, 84 new cases, corona , 126 deaths

इंदौर। मध्यप्रदेश की आर्थिक राजधानी इंदौर में कोरोना का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा है। यहां अब 84 नये मामले सामने आए हैं, जबकि चार लोगों की मौत की पुष्टि हुई है। इसके साथ ही जिले में कोरोना संक्रमित मरीजों की कुल संख्या 3344 हो गई है। वहीं, इंदौर में अब तक कोरोना से 126 लोगों की मौत हो चुकी है।   इंदौर के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी (सीएमएचओ) डॉ. प्रवीण जडिय़ा ने शुक्रवार को बताया कि एमजीएम मेडिकल कॉलेज द्वारा गुरुवार देर रात 1073 सेम्पलों की जांच रिपोर्ट जारी की गई, जिसमें 964 रिपोर्ट निगेटिव और 84 रिपोर्ट पॉजिटिव आई हैं।    इन नये मामलों के साथ अब जिले में कोरोना संक्रमित मरीजों की कुल संख्या 3344 हो गई है। वहीं, इंदौर में चार लोगों की मौत की भी पुष्टि हुई है। इनमें एक 62 वर्षीय, 65 वर्षीय और 84 वर्षीय पुरुष तथा एक 80 वर्षीय बुजुर्ग महिला शामिल है। इन चार मौतों के बाद यहां कोरोना से मरने वालों की संख्या 126 हो गई है।   सीएमएचओ डॉ. जडिय़ा के मुताबिक, इंदौर में अब तक 1673 संक्रमित मरीज कोरोना को मात देकर स्वस्थ हो चुके हैं और उन्हें अस्पतालों से डिस्चार्ज कर अपने घर भेज दिया गया है। अब जिले में एक्टिव केस 1545 हैं, जिनका विभिन्न अस्पतालों में उपचार जारी है।  

Dakhal News

Dakhal News 29 May 2020


bhopal, Struggle over meeting ,two more corona positives, Raj Bhavan

भोपाल। कोरोना के लगातार बढ़ रहे मामलों के बीच राजभवन में शुक्रवार को फिर से दो नए पॉजिटिव मरीज मिले हैं। इसके बाद राजभवन के कर्मचारी निवास में हड़कंप मच गया है। इन दो पॉजीटिव को मिलाकर अब तक कर्मचारी निवास में रहने वाले 9 लोग संक्रमित हो चुके हैं। इसे देखते हुए राजभवन के कर्मचारी निवास कैंपस को कंटेनमेंट घोषित कर आसपास के 50 घरों की सैंपलिंग और हर दिन स्क्रीनिंग की जा रही है।   राजभवन में कोरोना के 07 पॉजीटिव पाए जाने के बाद उनके संपर्क में आए लोगों के सैंपल लिए गए थे। शुक्रवार सुबह आई रिपोर्ट के अनुसार इनमें से दो और लोग कोरोना पॉजीटिव पाए गए हैं। इसके बाद राजभवन के कर्मचारी आवास क्षेत्र में सख्ती बढ़ा दी गई है। मिली जानकारी के मुताबिक राज्यपाल के निजी स्टाफ को "कोर जोन" में रखा गया है। उन्हें उससे बाहर जाने की इजाजत नहीं होगी। इसमें उनका रसोईया, सफाई व अन्य कर्मचारी भी शामिल हैं। इसके अलावा राजभवन के जो कर्मचारी व उनके स्वजन कोरोना पॉजिटिव हैं, उनकी कॉलोनी और क्षेत्र को प्रतिबंधित कर दिया गया है। इनमें से एक कर्मचारी राज्यपाल के कक्ष में भी गया था, जिससे पूरे भवन को नए सिरे से सैनिटाइज किया गया। निजी स्टाफ में तैनात कर्मचारियों की जमावट भी नए सिरे की गई है।   राजभवन सचिवालय में और सख्ती के साथ कोरोना संक्रमण से बचाव की गाइडलाइन का पालन कराया जा रहा है। मुलाकात के लिए आने वालों की संख्या भी बहुत सीमित कर दी गई है। राज्यपाल से मिलने आने वाले अति विशिष्ट अतिथियों को भी थर्मल स्कैनर से परीक्षण, सैनिटाइजेशन और समुचित शारीरिक दूरी का पालन करने को कहा गया है।  

Dakhal News

Dakhal News 29 May 2020


new delhi, India rejects ,Trump claim , talks with Modi , border dispute

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने हाल के कुछ समय में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प से बातचीत नहीं की है। सूत्रों ने इस तरह राष्ट्रपति ट्रम्प के उस दावे को पूरी तरह खारिज कर दिया है जिसमें उन्होंने कहा था कि चीन के साथ लगती सीमा पर चल रही तनातनी के बारे में उनकी मोदी से बात हुई है और मोदी इस तनातनी को लेकर काफी नाराज हैं। विदेश मंत्रालय के सूत्रों के अनुसार हाल के दिनों में प्रधानमंत्री मोदी और राष्ट्रपति ट्रम्प के बीच कोई बातचीत नहीं हुई है। दोनों नेताओं के बीच आखिरी बार हाईड्रोक्सीक्लोरोक्वीन के मुद्दे पर चार अप्रैल को बात हुई थी।  अमेरिकी समयानुसार गुरुवार को (भारतीय समयानुसार शुक्रवार सुबह) डोनाल्ड ट्रम्प ने पत्रकारों से व्हाइट हाउस में बातचीत में कहा कि उनकी प्रधानमंत्री मोदी से बात हुई है और वह चीन के साथ चल रही तनानती को लेकर नाराज है। राष्ट्रपति ट्रम्प पहले ही भारत और चीन के बीच वास्तविक नियंत्रण रेखा के मुद्दे पर लद्दाख में चल रहे गतिरोध में मध्यस्थता करने का ऑफर दे चुके हैं। वहीं भारत को द्विपक्षीय मुद्दों में इस तरह का ऑफर स्वीकार्य नहीं है। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने गुरुवार को कहा था कि भारत और चीन के बीच सीमा संबंधित विवादों के समाधान के लिए एक मानक प्रक्रिया पहले से ही तय है और उसी के तहत दोनों देश आपस में संपर्क बनाए हुए हैं।

Dakhal News

Dakhal News 29 May 2020


bhopal,CM Shivraj ,reached Raj Bhavan, meet  Governor,cabinet expansion

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के मंत्रिमंडल विस्तार की अटकलें इन दिनों जोरों पर है। इस बीच सीएम शिवराज सोमवार सुबह 11 बजे राज्यपाल लालजी टंडन से मुलाकात करने राजभवन पहुंचे। इस मुलाकात के दौरान यूनिवर्सिटी और कॉलेजों में परीक्षाओं पर निर्णय लेने के साथ मंत्रिमंडल विस्तार को लेकर भी बात हो सकती है।   दरअसल लॉकडाउन के कारण प्रभावित हुई कॉलेज और यूनिवर्सिटी की परीक्षाओं को लेकर सरकार अब जल्द निर्णय ले सकती है। इसी संबंध में चर्चा के लिए सीएम शिवराज अपने अधिकारियों के साथ राज्यपाल लाल जी टंडन से मुलाकात करने पहुंचे। कोरोना वायरस को लेकर सावधानी के साथ परीक्षाओं का आयोजन कैसे किया जाए इस पर भी बात हो सकती है।   संभावना जताई जा रही है कि इस दौरान सीएम शिवराज और राज्यपाल के बीच कैबिनेट विस्तार को लेकर भी चर्चा हो सकती है। हालांकि मुख्यमंत्री पहले ही साफ कर चुके है कि लॉक डाउन 4.0 खत्म होने से पहले ही वे मंत्रिमंडल का विस्तार कर देंगे। बताया जा रहा है कि 28-29 मई को कैबिनेट विस्तार हो सकता है। अभी शिवराज मंत्रिमंडल में केवल पांच ही मंत्री है। मंत्रिमंडल विस्तार में कैबिनेट और राज्यमंत्री मिलाकर कुल मंत्रियों की संख्या 20 से 22 हो सकती है। सूत्रों के अनुसार मंत्रिमंडल विस्तार में सिंधिया गुट के 7 से 8 मंत्री होंगे। सिंधिया ही निर्णय करेंगे कि कौन-कौन मंत्री बनेगा। विधानसभा उपचुनाव में कौन लड़ेगा और कौन नहीं लड़ेगा, भाजपा ने इसका फैसला भी सिंधिया पर छोड़ा है। मंत्रिमंडल विस्तार के संबंध में चर्चा के लिए मुख्यमंत्री एक-दो दिन में दिल्ली जाएंगे। वहां उनकी भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्ढा से मुलाकात होने की संभावना है।  

Dakhal News

Dakhal News 25 May 2020


j&k, kulgam, Two terrorists killed, encounter between terrorists ,security forces

कुलगाम। कुलगाम जिले के मंजगाम क्षेत्र में सोमवार सुबह से सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच जारी मुठभेड़ में सुरक्षाबलों ने दो आतंकियों को मार गिराया है। क्षेत्र में फिलहाल मुठभेड़ जारी है। माना जा रहा है कि अब भी एक आतंकी सुरक्षाबलों के घेरे में है। सोमवार तड़के आतंकियों की मौजूदगी की सूचना प्राप्त होने के बाद सुरक्षाबलों की एक संयुक्त टीम द्वारा तलाशी अभियान शुरू किया गया, जिसके बाद मुठभेड़ शुरू हो गई। इसी बीच कुलगाम तथा शोपियां जिलों में हिसंक प्रदर्शनों के मद्देनजर प्रशासन ने माबाईल इंटरनेट सेवा बंद कर दी है।   जानकारी के अनुसार सोमवार तड़के सुरक्षाबलों को जिले के मंजगाम क्षेत्र के हांजीपोरा इलाके में आतंकियों की मौजूदगी की गुप्त सूचना प्राप्त हुई। सूचना प्राप्त होते ही सेना की 34 आरआर, सीआरपीएफ तथा एसओजी की एक संयुक्त टीम ने पूरे क्षेत्र की घेराबंदी करके तलाशी अभियान शुरू किया। तलाशी अभियान के दौरान क्षेत्र में छिपे आतंकियों ने सुरक्षाबलों पर गोलीबारी की, जिसके बाद मुठभेड़ शुरू हो गई। मुठभेड़ में सुरक्षाबलों ने अभी तक दो आतंकियों को मार गिराया है। क्षेत्र में मुठभेड़ फिलहाल जारी है।   सूत्रों के अनुसार सुरक्षाबलों द्वारा सोमवार सुबह शुरू किए गए तलाशी अभियान के दौरान स्थानीय लोगों ने सुरक्षाबलों पर पत्थराव शुरू कर दिया, जिसके बाद सुरक्षाबलों को कार्रवाई करनी पड़ी।

Dakhal News

Dakhal News 25 May 2020


bhopal, Kamal Nath ,ticket money, being collected, migrant laborers,tokens

भोपाल। प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने प्रवासी मजदूरों से श्रमिक स्पेशलों ट्रेनों में किराया वसूली को लेकर फिर राज्य सरकार पर निशाना साधा है। उन्होंने सोशल मीडिया के माध्यम से कहा है कि टोकन के नाम पर प्रवासी मजदूरों से टिकट के पैसे वसूले जा रहे हैं।पूर्व सीएम कमलनाथ ने शनिवार को ट्वीट किया है कि केन्द्र सरकार से लेकर राज्य सरकार तक बड़े-बड़े दावे कर रही है कि प्रवासी मजदूरों, गरीबों की घर वापसी के लिये विशेष ट्रेन चलायी जा रही है और उसका उनसे कोई किराया नहीं लिया जा रहा है, जबकि सच्चाई इसके विपरीत है।    उन्होंने एक व्यक्ति का वीडियो भी पोस्ट किया है। साथ ही उन्होंने दूसरे ट्वीट में लिखा है कि ‘- ऐसे कई मामले पूर्व में भी सामने आ चुके हैं, जिसमें टिकट के पैसों की वसूली की गयी है। अब प्रदेश में टिकट वसूली का दूसरा तरीका ढूंढ लिया गया है। यह है भोपाल की तस्वीर, जहां टिकट के पैसे वसूल कर टोकन दिया जा रहा है। हद है बेशर्मी की, यह है इनकी वास्तविकता।’

Dakhal News

Dakhal News 23 May 2020


indore, 83 new cases found, so far 111 dead

इंदौर। मध्यप्रदेश की आर्थिक राजधानी इंदौर में कोरोना वायरस के संक्रमित मरीजों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। यहां अब 83 नये मामले सामने आए हैं। इसके साथ ही यहां संक्रमित मरीजों की संख्या 2933 हो गई है। वहीं, इंदौर जिले में कोरोना से अब तक 111 लोगों की मौत हो चुकी है।इंदौर के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी (सीएमएचओ) डॉ. प्रवीण जडिय़ा ने शनिवार को बताया कि एमजीएम मेडिकल कॉलेज द्वारा शुक्रवार को देर रात 926 सेम्पलों की जांच रिपोर्ट जारी की गई, जिनमें 841 सेम्पल निगेटिव और 83 सेम्पल पॉजिटिव पाये गये हैं। नये मामलों को मिलाकर अब जिले में कोरोना संक्रमित मरीजों की कुल संख्या 2933 पहुंच गई है। वहीं, इसके साथ ही इंदौर में दो लोगों की मौत की भी पुष्टि होने के बाद यहां कोरोना से मरने वालों की संख्या 111 हो गई है। उन्होंने बताया कि इंदौर में अब तक 1381 मरीज कोरोना को परास्त कर चुके हैं और उन्हें अस्पतालों से डिस्चार्ज कर दिया गया है। अब शहर में एक्टिव प्रकरण 1451 है और उनका विभिन्न अस्पतालों में उपचार जारी है।

Dakhal News

Dakhal News 23 May 2020


bhopal, Information , corona infection ,available ,NIC website

भोपाल। कोरोना संक्रमण के संबंध में कंटेनमेंट क्षेत्र, ग्रीन जोन, संक्रमित लोगों की संख्या, स्वस्थ होकर अपने घर जाने वाले और एक्टिव मरीजों की संख्या के नक्शे समेत सभी जानकारी नागरिकों को उपलब्ध कराने के लिए भोपाल में एक वेबसाइट तैयार की गई है। यह वेबसाइट शुरू हो चुकी है और इस पर कोरोना से संबंधित सभी जानकारी उपलब्ध है। इसके अलावा जिला प्रशासन भोपाल द्वारा समय-समय पर जारी किये गए आदेश और निर्देश भी इस वेबसाइट पर देखे जा सकते हैं।भोपाल कलेक्टर तरुण पिथोड़े ने इसकी जानकारी देते हुए बताया कि एनआईसी भोपाल द्वारा एक वेबसाइट बनाई गई है, जिसमें सभी लोग इस वेबसाइट पर जाकर कंटेनमेंट क्षेत्र, रेड जोन, एक्टिव मरीजों की संख्या और उनके क्षेत्र को बड़ी आसानी से देख सकते हैं आम लोगों की सुविधा और सुरक्षात्मक उपाय को देखते हुए यह वेबसाइट शुरू की गई है। इस पर कोई भी व्यक्ति अपने आसपास के क्षेत्रों के एक्टिव मरीजों की संख्या के साथ ही विगत दिनों जिला प्रशासन द्वारा समय-समय पर जारी किए गए आदेश-निर्देशों को भी देख सकता है। आमजन के साथ-साथ पत्रकारों द्वारा लगातार पूछे जा रहे सवालों के जवाब देने के उद्देश्य से एनआईसी ने यह वेबसाइट शुरू की है, जिसमें जोन, प्रतिबंधात्मक आदेश आदि की सभी जानकारी उपलब्ध कराई गई है।

Dakhal News

Dakhal News 23 May 2020


bhopal, Madhya Pradesh, number of infected patients,crossed 272 deaths

भोपाल। मध्यप्रदेश में फिर कोरोना के 105 नये मामले सामने आए हैं। इसके साथ ही यहां कुल संक्रमित मरीजों की संख्या छह हजार के पार पहुंच गई है। वहीं, इंदौर में दो लोगों की मौत की पुष्टि हुई है। इसके बाद राज्य में कोरोना से मरने वालों की संख्या 272 हो गई है।इंदौर के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी (सीएमएचओ) डॉ. प्रवीण जडिय़ा ने शुक्रवार को बताया कि एमजीएम मेडिकल कॉलेज द्वारा गुरुवार देर रात 599 सेम्पलों की जांच रिपोर्ट जारी की गई, जिसमें 76 रिपोर्ट पॉजिटिव और शेष 465 रिपोर्ट निगेटिव प्राप्त हुई हैं। इसके साथ ही दो लोगों की मौत की भी पुष्टि हुई है। मृतकों में एक 70 वर्षीय महिला और एक 65 वर्षीय पुरुष शामिल है। नये प्रकरणों के साथ इंदौर में अब संक्रमित मरीजों की संख्या 2850 हो गई है, जबकि जिले में कोरोना से अब तक 109 लोगों की मौत हो चुकी है। वहीं, उज्जैन में भी बीती देर रात आई रिपोर्ट में 23 नये मामले सामने आए हैं। इन्हें मिलाकर अब जिले में संक्रमित मरीजों की संख्या 504 हो गई है, जबकि यहां अब तक 51 लोगों की मौत हो चुकी है। इसके अलावा देवास में पांच और सिवनी में एक नया पॉजिटिव मरीज मिला है।इन 105 नये मामलों के साथ अब प्रदेश में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 5981 से बढक़र 6086 हो गई है। इनमें सबसे अधिक इंदौर में 2850, भोपाल 1115, उज्जैन 504, बुरहानपुर 206, जबलपुर 192, खंडवा 208, खरगौन 114, धार 107, मंदसौर 82, ग्वालियर 83, रायसेन 67, देवास 74, नीमच 58, मुरैना 58, सागर 51, भिण्ड 42, होशंगाबाद 37, बड़वानी 39, रतलाम 29, रीवा 22, विदिशा 16, आगरमालवा 13, झाबुआ 11, सतना 10, बैतूल 09, शाजापुर 09, सीधी 08, टीकमगढ़ 06, अशोकनगर 06,  छिंदवाड़ा 05, दमोह 06, सीहोर 05, श्योपुर 05, डिंडोरी 04, अलीराजपुर 03, अनूपपुर 03, दतिया 04, शहडोल 04, हरदा 03, पन्ना 03, शिवपुरी 04, छतरपुर 02, गुना 01, मंडला 01, राजगढ़ 01, सिवनी 02, सिंगरौली 01, उमरिया 01 और बालाघाट का एक मरीज शामिल है। वहीं, इंदौर में हुई दो मौतों के बाद राज्य में कोरोना से मरने वालों की संख्या 272 हो गई है। मृतकों में सबसे अधिक इंदौर के 109, भोपाल 40, उज्जैन 51, खरगौन 08, देवास 08, बुरहानपुर 11, धार, 02, जबलपुर 09, खंडवा 10, रायसेन 03,  छिंदवाड़ा 01, मंदसौर 06, होशंगाबाद 03,  नीमच 02, अशोकनगर 01, आगर मालवा 01, सतना 01, सागर 02, ग्वालियर 01, झाबुआ 01, और शाजापुर का एक व्यक्ति शामिल है।  

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2020


bhopal, MNREGA, jobcard distribution campaign, Madhya Pradesh ,from today

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान आज (शुक्रवार को) दोपहर तीन बजे वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से 'सबको मिलेगा रोजगार'' के तहत मनरेगा जॉबकार्ड वितरण महाअभियान का शुभारंभ करेंगे। मुख्यमंत्री वीडियो कॉन्फ्रेसिंग के माध्यम से ग्राम प्रशासनिक समितियों के प्रधानों से बातचीत भी करेंगे। पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग के अपर मुख्य सचिव मनोज श्रीवास्तव ने बताया कि राज्य सरकार प्रवासी श्रमिकों तथा रोजगार की तलाश में बाहर गए श्रमिकों को वापस आने पर उनके गांव और ग्राम पंचायत क्षेत्र में ही रोजगार मुहैया कराने के लिए कृत संकल्पित है। इसके लिए मनरेगा योजना के तहत बड़े स्तर पर रोजगार मूलक कार्य प्रारंभ किए गए हैं। इन कार्यों में नए श्रमिकों को जोड़ा जाएगा। इसी कड़ी में मुख्यमंत्री आज वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से मनरेगा रोजगार कार्ड वितरण महाअभियान प्रक्रिया का शुभारंभ करेंगे। इस वीडियो कॉफ्रेंसिंग में प्रदेश के सभी जिला मुख्यालय पर स्थित दो वीसी कॉन्फ्रेंस हाल से 100 जनपद केन्द्र जुड़ेंगे तथा अन्य जनपद मुख्यालय पर भी लिंक शेयर कर ग्राम प्रधान और मनरेगा श्रमिकों की भागीदारी सुनिश्चित की जाएगी। श्रीवास्तव ने बताया कि वर्तमान में प्रदेश की 22,809 ग्राम पंचायतों में से 22,695 ग्राम पंचायतों में 19 लाख 92 हजार मजदूर कार्य कर रहे हैं। विगत सात दिनों का औसत 19 लाख 24 हजार मजदूर प्रति दिवस रहा है। कोरोना संकट के समय एक अप्रैल से लेकर अभी तक 35 लाख 45 हजार 242 मजदूरों को मनरेगा अंतर्गत रोजगार प्रदान किया गया है। इसमें 42.2 प्रतिशत महिलाओं को रोजगार दिया गया है।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2020


new delhi, RBI, cuts repo rate, 0.40%

नई दिल्‍ली। रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (आरबीआई) ने रेपो रेट में 0.40 फीसदी और रिवर्स रेपो रेट में 3.35 की कटौती की है। इस कटौती के साथ रेपो रेट घटकर 4 फीसदी पर और रिवर्स रेपो रेट घटकर 3.35 फीसदी पर आ गया है। इसके साथ ही रिजर्व बैंक ने लोन मोरैटोरियम की अवधि 3 महीने और बढ़ा दिया है। रिजर्व बैंक की ब्‍याज दरों में की गई इस कटौती से भविष्य में लोन की ब्याज दरें घटेंगी और लोगों की सस्ती दर पर कर्ज मिल सकेगा। रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास ने शुक्रवार को एक प्रेस कांफ्रेंस में इसकी जानकारी दी।   आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा कि कोरोना आपदा से पैदा हुआ हालातों से निपटने के लिए रिजर्व बैंक ये कदम उठा रहा है। गवर्नर ने कहा कि मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) ने पॉलिसी रेट में कटौती का फैसला किया है। आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास ने मौद्रिक नीति समिति के फैसलों की जानकारी देते हुए बताया कि समिति ने कोरोना से आई सुस्ती से निपटने के लिए 0.40 फीसदी और रिवर्स रेपो रेट में 3.35 की कटौती का फैसला किया है।  आरबीआई गवर्नर ने यह भी बताया कि एमपीसी के 6 में से 5 सदस्यों ने रेपो रेट घटाने के पक्ष में वोट दिया। कमेटी की बैठक 3 जून से होनी थी, लेकिन इसे पहले ही कर ली गई।  उल्‍लेखनीय है कि शक्तिकांत दास की ये तीसरी प्रेस कांफ्रेंस है। आरबीआई गवर्नर ने इससे पहले 27 मार्च और 17 अप्रैल को प्रेस कांफ्रेंस की थी, जिसमें गवर्नर ने अर्थव्यवस्था में तेजी लाने और बैंकिंग सिस्टम में लिक्विडिटी बढ़ाने के लिए कई उपायों की घोषणा की थी। आरबीआई गवर्नर के ऐलान की मुख्‍य बातें : -ईएमआई चुकाने वाले ग्राहकों को आरबीआई ने बड़ी राहत दी है। रिजर्व बैंक ने लोन मोरैटोरियम की अवधि और 3 महीने के लिए बढ़ा दी है। अब लोग 31 अगस्‍त तक उठा सकेंगे लोन मोरैटोरियम का लाभ। इसी के साथ मोरेटोरियम की समय सीमा बढ़कर छह महीने हो गई है। -रिजर्व बैंक गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा कि एक्‍सपोर्ट क्रेडिट की अवधि 12 महीने से बढ़ाकर 15 महीने कर दी गई है। -आरबीआई गवर्नर ने बताया कि बैंकों कि ग्रुप एक्सपोजर सीमा को 30 फीसद से बढ़ाने का फैसला लिया गया है। -आरबीआई गवर्नर ने बताया कि 15,000 करोड़ रुपये का क्रेडिट लाइन एग्जिम बैंक को दिया जाएगा। साथ ही सिडबी को दी गई रकम का इस्तेमाल आगे और 90 दिनों तक करने की इजाजत दी गई है। -आरबीआई गवर्नर ने बताया भारत का विदेशी मुद्रा भंडार 9.2 अरब डॉलर बढ़ा है। -दास ने कहा कि वित्‍तीय, मौद्रिक और प्रशासनिक एक्‍शंस से वित्‍त वर्ष 2021 की दूसरी छमाही में अर्थव्‍यवस्‍था के सुधार की परिस्थितियां बनेंगी।   -आरबीआई गवर्नर ने बताया कि एमसीपी के अनुसार दूसरी छमाही में महंगाई में कमी का अनुमान है। -आरबीआई गवर्नर ने बताया कि साल 2021की पहली तिमाही में जीडीपी ग्रोथ नेगेटिव रह सकती है। उन्होंने बताया कि वित्त वर्ष 2021 दूसरी तिमाही में सुधार आ सकता है।   -मौद्रिक नीति समिति का मानना है कि महंगाई का परिदृश्‍य मौजूदा समय में अनिश्चित है। दास ने कहा कि मार्च में औद्योगिक उत्‍पादन 17 फीसद घटा है। अप्रैल में सर्विसेज पीएमआई अबतक के निचले स्‍तर पर रहा है।   -दास ने कहा, ग्‍लोबल सर्विसेज पीएमआई में ऐतिहासिक गिरावट देखी गई है। वैश्विक कारोबार के मूल्‍य में इस वर्ष 13-32 फीसद की कमी आ सकती है।

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2020


bhopal,Chief Minister Shivraj, used modern technology , lockdown

भोपाल । केन्द्र सरकार के लॉकडाउन फैसले के बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के सामने सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए मुश्किल वक्त में प्रदेश में गुड गवर्नेंस स्थापित करना बड़ी चुनौती थी। सुदीर्घ शासकीय अनुभव वाले मुख्यमंत्री चौहान ने इस चुनौती को स्वीकारा और नेशनल इनफॉर्मेटिक सेंटर की व्यवस्था और सोशल मीडिया को अपना जरिया बनाया। चौहान ने 81 वीडियो कॉन्फ्रेंस में अलग-अलग वर्गों से कुल 149 घंटो का संवाद किया। इस व्यवस्था के तहत उन्‍होंने अपने और अधिकारियों एवं प्रदेश की जनता के बीच संदेश सेतु बनाया। संचार की इस आधुनिकतम तकनीक से शासन और आम जनता के बीच में बेहतर और निरंतर संवाद स्थापित किया जा रहा है।   इस संबंध में जनसंपर्क अधिकारी नीरज शर्मा ने गुरुवार को बताया कि मुख्यमंत्री चौहान ने संचार के सभी माध्यमों को अपनाते हुए सोशल मीडिया का भी भरपूर उपयोग किया है। मुख्यमंत्री चौहान ने अपने फेसबुक एकाउण्ट पर 23 मार्च से अब तक ट्विटर पर 58, फेसबुक पर 108 से अधिक वीडियो पोस्ट किए गए, 22 लाइव इवेंट के माध्यम से मध्य प्रदेश की जनता से सीधी चर्चा की गई। इसके साथ ही फेसबुक पर करीब 8 करोड़ रीच हुई, प्रतिदिन 13 लाख इंप्रेशन फ़ेसबुक हैंडल पर मिले और ट्विटर पर 23 लाख इंप्रेशन प्राप्त हुए।    इसके अलावा सीएमओ के फेसबुक अकाउंट पर 23 मार्च के बाद से अब तक मुख्यमंत्री चौहान द्वारा कोरोना संकट की रोकथाम व अन्य व्यवस्थाओं को लेकर लिए गए महत्वपूर्ण फैसलों व दिशा-निर्देशों की जानकारियों से संबंधित 125 से अधिक वीडियो पोस्ट की गई, जिनकी अन्य पोस्ट के साथ मिलाकर रीच करीब 4 करोड़ 65 लाख है। साथ ही सीएमओ के ट्विटर अकाउंट पर इस दौरान इंप्रेशन करीब 14.2 मिलियन रहे। एक बड़े संवाद सेतु के साथ कोरोना के युद्ध में महायोद्धा बन कर शिवराज सिंह चौहान डिजिटल मैदान में उभरे हैं। मुख्यमंत्री चौहान के सोशल मीडिया एकाउण्ट जारी होने वाली सूचनाओं और जनहित के निर्णयों की जानकारी होने से उनका फेसबुक एवं ट्विटर एकाउण्ट काफी लोकप्रिय भी हो रहा है।   कोरोना महामारी के प्रकोप का सामना करने के लिए मुख्यमंत्री चौहान अपने कुशल प्रशासनिक अनुभव और सूझ-बूझ के साथ सूचना एवं संचार तकनीक का पूरा इस्तेमाल कर रहे हैं। इस दिशा में एन.आई.सी. की टीम सक्रिय रूप से कार्य कर रही है। एन.आई.सी. के सीनियर टेक्निकल डायरेक्टर मयंक नागर ने बताया कि एन.आई.सी. द्वारा संभाग एवं जिलों के अधिकारियों की वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग की व्यवस्थाओं को सुनिश्चित किया जाकर सोशल डिस्टेंसिंग के साथ त्वरित संवाद सुनिश्चित कराया गया।   मुख्यमंत्री चौहान ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग कर प्रदेश के हर वर्ग के लोगों से जुड़ कर संवाद स्थापित किया है। मुश्किल समय में अब तक 81 वीसी के माध्यम से मुख्यमंत्री अपने अधिकारियों के संपर्क में तो हैं ही, साथ ही प्रतिदिन इस तकनीक का इस्तेमाल कर उन्होंने विभाग प्रमुख, संभागायुक्त, कलेक्टर, पुलिस अधीक्षक, शासकीय अधिकारियों, समाज सेवी संस्थाओं, चिकित्सकों, मीडिया प्रतिनिधियों, पुलिस अधिकारियों, उद्योगपतियों, धर्मगुरूओं, किसानों और कोरोना से जंग जीतकर लौट रहे मरीजों सहित शासन की योजनाओं में लाभान्वित हितग्राहियों से चर्चा कर उचित कदम भी उठाये हैं।   मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने एनआईसी की ई-पेमेंट पोर्टल के माध्यम से बाहर राज्यों में फंसे मजदूरों, मिड डे मिल के रसोईयों, खाद्यान्न सुरक्षा भत्ता, विद्यार्थियों को छात्रवृति की राशि समेत कई योजनाओं के हितग्राहियों को भुगतान किया। कोविड-19 की परिस्थितियों को देखते हुए मुख्यमंत्री चौहान ने जनहित के कई निर्णय भी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में ही लिये, इसमें जीवन अमृत योजना, जीवन शक्ति योजना, अप्रवासी श्रमिकों के लिये जॉब कार्ड योजना शुरू करने का भी निर्णय लिया। इसके साथ ही विभिन्न योजनाओं में 6 हजार 489 करोड़ की राशि हितग्राहियों के खाते में ट्रान्सफर की। मुख्यमंत्री चौहान ने समर्थन मूल्य पर किसानों से क्रय किये जा रहे गेहूँ, चना एवं मसूर की खरीदी पर भी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से प्रतिदिन समीक्षा की, जिसके परिणामस्वरूप प्रदेश में अल्प अवधि में गेहूँ उपार्जन का रिकार्ड कायम किया। गेहूँ उपार्जन के साथ किसानों को समय पर भुगतान की कार्यवाही भी सुनिश्चित की गई।   कोरोना संकट में संवाद सेतु के रूप में कार्य कर रहे राष्ट्रीय सूचना विज्ञान केन्द्र (एनआईसी) का उपयोग मुख्यमंत्री के अलावा प्रदेश के मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस ने भी किया। उन्होंने 38 वीडियो कॉफ्रेंसिंग के जरिये 53 घंटों तक अधिकारियों के साथ ऑनलाइन मीटिंग की है। वहीं स्वास्थ्य, खाद्य, सहकारिता, चिकित्सा शिक्षा, वन, वित्त विभागों द्वारा भी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग और वीडियो कॉलिंग तकनीक का इस्तेमाल कर कोविड-19 से बचाव के लिए किए जा रहे कार्यों की समीक्षा की गई।  

Dakhal News

Dakhal News 21 May 2020


bhopal, Digvijay emotional appeal, before by-election, defeat Congress,subsequent election

भोपाल। मध्य प्रदेश में कांग्रेस की सरकार गिरने के बाद कई नेताओं के निशाने पर आए वरिष्ठ कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह अपनी एक पोस्ट को लेकर सुर्खियों में है। गुरुवार सुबह उन्होंने अपने सोशल मीडिया फेसबुक पेज पर 22 बागी विधायकों को लेकर उपचुनाव से पहले जनता से एक भावनात्मक अपील की है। दिग्विजय सिंह की सोशल मीडिया पर इस पोस्ट ने कांग्रेस का माहौल एक बार फिर गर्म कर दिया।   मध्य प्रदेश में कुल 24 विधानसभा सीटों पर उपुचनाव होने है। इनमें से 22 सीटें वो है जिन पर सिंधिया समर्थक विधायक थे और उन्होंने बगावत कर कांग्रेस की सरकार गिराई थी। बाद में ज्योतिरादित्य सिंधिया के साथ भाजपा का दामन थाम लिया था। जल्द ही इन सीटों पर चुनाव होने है। ऐसे में विधानसभा की खाली सीटों पर उपचुनाव के ठीक वक्त पहले दिग्विजय सिंह ने 22 बागी विधायकों को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि बिकाऊ विधायकों की क्षेत्र की जनता से अपील है कि बिके हुए विधायकों को बुरी तरह से हराएं, जिससे मध्यप्रदेश में मिसाल कायम हो, कोई भी पार्टी विधायक खरीदने को कोशिश ना कर सके। जनता से कांग्रेस के पक्ष में वोट करने की अपील की है।   दरअसल जो विधायक भाजपा में गए हैं, उनका विरोध करते हुए दिग्गी ने लिखा है कि कांग्रेस के उम्मीदवार को जीताए और बिके हुए विधायकों के लिए एक मिसाल कायम करें। दिग्विजय सिंह ने ये भी कहा कि अगर आपको कांग्रेस को खत्म करना है तो इसके बाद चुनाव में आपके पास मौका होगा करा देना, लेकिन लोकतंत्र को बचाने के लिए वोट कीमत बरकरार रखने के लिए ये आखिरी मौका है। दिग्विजय सिंह ने कहा कि अगर ये विधायक जीत गए, तो गलत परंपरा चल पड़ेगी, विधायकों की मंडी लगेगी बड़े नेता दलाल बन बैठेंगे।   यह लिखा है दिग्विजय सिंह ने फेसबुक पर:  इन बिकाऊ विधायकों के क्षेत्र की जनता से अपील है। चाहे आप कांग्रेस समर्थक हो या भाजपा के इन 22 विधायकों का हराना देश के लोकतंत्र के लिये जरूरी है। क्योंकि अगर ये जीत गए तो ये परंपरा हर पार्टी में चल पड़ेगी जनता चुनाव में वोट दे ना दे विधायक खरीदो और सरकार बनाओ। और राजनीतिक पार्टियां जनता के दरवाजे पर जाने के बदले विधायक खरीदना ज्यादा आसान काम मानेगी और करेगी जनता के वोट की अहमियत खत्म हो जाएगी विधायकों की मंडी लगेगी बड़े नेता दलाल बन बैठेंगे और अगर ये 22 बुरी तरह हार गए तो मध्यप्रदेश और आपका क्षेत्र एक मिसाल बन जायेगा। देश में कोई भी पार्टी विधायक खरीदने को तैयार नही होगी और कोई विधायक भी बिकने को तैयार नही होगा। इसके बाद के हर चुनाव में आपके पास मौका होगा हरा देना कांग्रेस को, लेकिन लोकतंत्र बचाने का जनता के वोट की कीमत को बरकरार रखने का ये आखिर मौका है। उसके बाद भाजपा वाले भाजपा को कांग्रेस वाले कांग्रेस को वोट देना, लेकिन ये 22 जब जब जिस जिस पार्टी से चुनाव लड़े इनको किसी भी पार्टी के टिकट पर जिंदगी भर मत जीतने नहीं देना। यही लोकतंत्र के लिये आपका योगदान होगा, कृपया इस मैसेज को उन 22 जहाँ- जहाँ से जिस भी पार्टी से चुनाव लड़े उस क्षेत्र में पहुँचा कर लोकतंत्र बचाने के काम में भारत देश की मदद करे। इसी प्रकार देश का लोकतंत्र बचेगा भारत देश बचेगा। जय हिंद जय भारत.... राष्ट्रहित में जारी।  

Dakhal News

Dakhal News 21 May 2020


new delhi, Railways released list ,200 trains run , June 1

नई दिल्ली। रेलवे ने एक जून से चलाई जाने वाली 200 ट्रेनों की सूची बुधवार को जारी कर दी। साथ ही यात्रा के दिशा-निर्देश भी जारी किए हैं। ट्रेनों में एसी और नॉन एसी दोनों कोच होंगे। ट्रेन के टिकटों की बुकिंग आज से (21 मई) आईआरसीटीसी की वेबसाइट पर ऑनलाइन शुरू होगी।   रेल मंत्रालय ने आज जो 200 रेल गाड़ियों की सूची जारी की है उनमें 5 जोड़ी दुरंतो, संपर्क क्रांति, 17 जोड़ी जन शताब्दी और पूर्वा एक्सप्रेस जैसी 73 लोकप्रिय सुपर फास्ट ट्रेन शामिल हैं।    रेल मंत्री पीयूष गोयल ने ट्वीट कर कहा कि रेलवे द्वारा 1 जून से 200 नॉन एसी ट्रेनों की शुरुआत की जायेगी, जो समय सारणी के अनुसार चलेंगी। यात्री इन ट्रेनों के लिये केवल ऑनलाइन टिकट बुक कर सकेंगे। इन सेवाओं के शुरु होने से नागरिकों को बड़ी राहत मिलेगी, तथा उन्हें अपने गंतव्य स्थानों तक पहुंचने में सुविधा होगी।    रेल मंत्रालय में सूचना एवं प्रचार विभाग के कार्यकारी निदेशक राजेश दत्त बाजपेई ने बताया कि ये ट्रेनें पूरी तरह से आरक्षित होंगी जिनमें एसी, नॉन एसी दोनों तरह के कोच होंगे। सामान्य कोच में भी बैठने के लिए आरक्षित सीटें होंगी। ट्रेन के लिए कोई अनारक्षित टिकट जारी नहीं किया जाएगा। बैठने के लिए आवंटित सीटों के साथ जनरल कोच भी आरक्षित होंगे। सामान्य कोचों में सीट आरक्षित करने के लिए सेकेंड सीटिंग (2एस) का किराया लिया जाएगा। केवल ऑनलाइन टिकट बुक करने की अनुमति होगी।   एक जून से चलने वाली ट्रेनों के लिए अग्रिम आरक्षण की अवधि अधिकतम 30 दिन होगी। आरएसी और प्रतीक्षा सूची के टिकट उपलब्ध होंगे, लेकिन प्रतीक्षा सूची टिकट धारकों को एक जून से ट्रेनों में यात्रा की अनुमति नहीं होगी। वर्तमान आरक्षण ट्रेन के निर्धारित प्रस्थान से दो घण्टे पहले तक ऑनलाइन उपलब्ध होगा। कोई तत्काल और प्रीमियम तत्काल बुकिंग नहीं होगी। फूड प्लाजा सहित स्टेशन के सभी स्टॉल खोले जाएंगे लेकिन केवल भोजन को लेकर जाने की अनुमति होगी।     यात्रियों के लिए फेस कवर व मास्क और आरोग्य सेतु ऐप अनिवार्य है। ट्रेन के निर्धारित प्रस्थान से 90 मिनट पहले यात्री को पहुंचना होगा। ऐसे यात्री जिनमें कोरोना के लक्षण नहीं होंगे केवल उन्हें ही यात्रा की अनुमति होगी। सभी संक्रमित ओं को पूरा किराया वापस किया जाएगा। दिव्यांगजन की केवल 4 श्रेणियां और मरीजों की 11 श्रेणियों को छूट का लाभ मिलेगा। सामान्य धनवापसी नियम लागू होगा। पैंट्री कारों में भुगतान के लिए पैक्ड खाद्य पदार्थ और पानी उपलब्ध होगा। ट्रेनों में चादर, कंबल या पर्दे नहीं मिलेंगे।  

Dakhal News

Dakhal News 21 May 2020


chindwara, Poster, disappearance, former CM Kamal Nath, MP Nakulnath

छिन्दवाड़ा। एक तरफ कोरोना का कहर जारी है वहीं दूसरी ओर पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ और छिंदवाड़ा सांसद नकुलनाथ अपने क्षेत्र से लापता हैं। उनके गृह जिले छिंदवाड़ा में पूर्व सीएम और क्षेत्रीय विधायक कमलनाथ और उनके सांसद बेटे के लापता होने के पोस्टर चस्पा किए गए हैं। मंगलवार को सुबह शहर के बाजारों में जगह-जगह यह पोस्टर लगे हुए दिखाई दिये, जिनमें उन्हें ढूंढकर लाने वाले को 21 हजार रुपये का इनाम देने का वादा भी किया गया है।   बता दें कि कुछ दिन पहले ही छिंदवाड़ा में बीजेपी के कुछ लोगों ने सोशल मीडिया पर पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ और उनके सांसद बेटे नकुल नाथ की गुमशुदगी की एक पोस्ट डाली थी। कहा गया था कि पूर्व सीएम और सांसद को ढूंढ़कर लाने वाले को 1100 रुपये इनाम दिया जाएगा। अब दोनों ही पार्टियों के बीच की राजनीतिक लड़ाई बाजारों में दिखने लगी है। छिंदवाड़ा के छोटी बाजार कलेक्ट्रेट परिसर में बड़े-बड़े पोस्टर लगाकर कमलनाथ को ढूंढकर लाने वाले को 21 हजार रुपये के इनाम की घोषणा की गई है। पोस्टरों में लिखा है कि चिट्ठी न कोई संदेश, जाने वह कौन सा देश, जहां तुम चले गए..। पोस्टर में लिखा है कि छिंदवाड़ा के लापता विधायक और सांसद को संकट काल में छिंदवाड़ा की जनता ढूंढ रही है। इस पोस्टर में प्रकाशक की जगह पर समस्त मतदाता छिंदवाड़ा विधानसभा और छिंदवाड़ा लोकसभा का जिक्र किया गया है। गौरतलब है कि हाल ही में कांग्रेस द्वारा भोपाल सांसद साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर को खोजकर लाने वाले को भी इनाम दिये जाने की बात कही गई थी।   

Dakhal News

Dakhal News 19 May 2020


j&k, encounter, between militants ,security forces ,continues,Srinagar

श्रीनगर। श्रीनगर के नवाकदल इलाके में आतंकियों और सुरक्षा बलों के बीच मुठभेड़ जारी है। मुठभेड़ के दौरान एक एसओजी का जवान घायल हो गया है। यह मुठभेड़ सोमवार देर रात क्षेत्र में आतंकियों की मौजूदगी की सूचना के बाद चलाए गए तलाशी अभियान के दौरान शुरू हुई थी। मुठभेड़ के दौरान हिंसक प्रदर्शनों की आशंका के चलते प्रशासन ने श्रीनगर में बीएसएनएल लैंडलाइन दूरभाष को छोड़कर बाकी सभी मोबाइल सेवाएं बंद कर दी हैं।   जानकारी के अनुसार सोमवार देररात श्रीनगर के नवाकदल इलाके में आतंकियों की मौजूदगी की पुख्ता सूचना के बाद एसओजी तथा सीआरपीएफ की एक संयुक्त टीम ने पूरे क्षेत्र की घेराबंदी कर तलाशी अभियान शुरू किया। तलाशी अभियान के दौरान क्षेत्र में छिपे आतंकियों ने सुरक्षाबलों पर गोलीबारी की, जिसके बाद मुठभेड़ शुरू हो गई। इस मुठभेड़ में एसओजी का एक जवान घायल हो गया, जिसे पास के अस्पताल ले जाया गया जहां पर उसका उपचार जारी है। दूसरी ओर क्षेत्र में आतंकियों को मार गिराने के लिए अभियान जारी है।   जम्मू-कश्मीर के डीजीपी दिलबाग सिंह ने बताया कि सोमवार देररात श्रीनगर में पुलिस के विश्वसनीय सूत्र से जानकारी मिलने पर तलाशी अभियान चलाया गया। रात में भी गोलीबारी हुई, जिसमें एसओजी का एक जवान घायल हो गया। उन्होंने कहा कि मंगलवार सुबह फिर से गोलीबारी शुरू हुई और अभियान अब भी जारी है। 

Dakhal News

Dakhal News 19 May 2020


new delhi, Pakistan firing,Sunderbani sector, Indian soldiers ,befitting reply

राजौरी। जम्मू कश्मीर की नियंत्रण रेखा पर गोलाबारी कर पाकिस्तान अपनी नापाक हरकत को जारी रखे हुए हैं। इस बीच मंगलवार सुबह पाकिस्तानी सेना ने राजौरी जिले की नियंत्रण रेखा पर स्थित सुंदरबनी सेक्टर को निशाना बनाकर भारी गोलाबारी की। पाकिस्तानी सेना के निशाने पर सेक्टर में बनी भारतीय चौकियां रहीं। भारतीय जवान भी पाकिस्तानी गोलाबारी का मुहतोड़ जवाब दे रहे हैं। दोनों ओर से गोलाबारी अभी जारी है। इस गोलाबारी में फिलहाल किसी प्रकार के नुकसान की कोई सूचना नहीं है।    आए दिन पाकिस्तान द्वारा राजौरी तथा पुंछ की नियंत्रण रेखा पर की जा रही गोलाबारी से यहां के ग्रामीण दहशत में हैं तथा जब भी गोलाबारी शुरू होती है तो वह अपनी जान बचाने के लिए सुरक्षित स्थानों या फिर बंकरों में चले जाते हैं।  

Dakhal News

Dakhal News 19 May 2020


bhopal, 6-month decisions, will be reviewed, again next week

भोपाल। पिछली सरकार द्वारा गत 6 माह में लिये गये निर्णयों की समीक्षा के लिये मंत्री समूह की बैठक मंत्रालय में हुई। गृह तथा लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा, जल संसाधन मंत्री तुलसीराम सिलावट और किसान कल्याण तथा कृषि विकास मंत्री कमल पटेल ने निर्णय लिया कि मंत्री समूह की बैठक अगले सप्ताह पुन: आयोजित की जाएगी। बैठक में अधिकारियों को समस्त आवश्यक दस्तावेज लेकर उपस्थित होने के निर्देश दिये गये। बैठक में प्रमुख सचिव सामान्य प्रशासन विनोद कुमार, प्रमुख सचिव महिला बाल विकास अशोक शाह, प्रमुख सचिव जल संसाधन डी.पी. आहूजा भी मौजूद थे।

Dakhal News

Dakhal News 18 May 2020


bhopal, Shock to Congress, before by-election, many Congress workers, join BJP

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और भाजपा प्रदेश अध्यक्ष विष्णु दत्त शर्मा के समक्ष सोमवार को प्रदेश शासन के मंत्री तुलसी सिलावट के नेतृत्व में सांवेर के कांग्रेस कार्यकर्ता भाजपा में शामिल हुए। मुख्यमंत्री शिवराज और प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा ने सभी नेताओं का दुपट्टा पहनाकर स्वागत किया।    सदस्यता ग्रहण करने वालों में वर्तमान ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष पूर्व मंडी अध्यक्ष भारत सिंह चौहान, सांवेर नगर परिषद के पूर्व अध्यक्ष एवं मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी के सदस्य दिलीप चौधरी, पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष इंदौर हुकुम सिंह सांखला, मार्केटिंग अध्यक्ष एवं वरिष्ठ कांग्रेस नेता नगजी राम ठाकुर, वरिष्ठ खाती समाजसेवी हुकुम सिंह पटेल, किसान कांग्रेस इंदौर के जिला अध्यक्ष एवं जनपद सदस्य ओम सेठ शामिल थे।    प्रदेश अध्यक्ष विष्णु शर्मा ने कहा कि सौभाग्य का विषय है कि जिस गति से मध्य प्रदेश के अंदर भाजपा की सरकार सीएम शिवराज के नेतृत्व में काम कर रही है और भाजपा का संगठन जिस गति से काम कर रहा है। उस यात्रा में ज्योतिरादित्य सिंधिया के नेतृत्व में कांग्रेस के मित्र भारतीय जनता पार्टी में शामिल हुए थे। उन्होंने कहा कि मंत्री तुलसी सिलावट के समर्थकों ने भाजपा की सदस्यता ग्रहण की है। मैं सभी नेताओं का स्वागत करता हूं। उन्होंने कहा कि सांवेर भी तुलसी सिलावट के नेतृत्व में कांग्रेस मुक्त होगा।   भाजपा को मजबूत करेंगे भाजपा में शामिल होने के पश्चात सभी नेताओं ने मुख्यमंत्री एवं प्रदेश अध्यक्ष का आभार व्यक्त किया उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी को मजबूत करने के लिए हम प्राण- प्रण के साथ जुटेंगे।  

Dakhal News

Dakhal News 18 May 2020


bhopal, Chief Minister, Shivraj Singh Chauhan, wrote letter, Mamta Banerjee

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को इंदौर में कार्यरत पश्चिम बंगाल के प्रवासी श्रमिकों की वापसी के संबंध में पत्र लिखा है। मुख्यमंत्री चौहान ने पत्र में लिखा है कि पश्चिम बंगाल के विभिन्न क्षेत्रों के निवासी प्रवासी श्रमिक इंदौर में कार्य करते हैं। लॉकडाउन के दौरान ये प्रवासी श्रमिक अपने गृह राज्य वापस जाना चाहते हैं, किन्तु अत्यधिक लम्बी दूरी होने और परिवहन के लिए शासकीय साधन नहीं होने से कतिपय प्रवासी श्रमिक निजी वाहनों के माध्यम से पश्चिम बंगाल के लिए प्रस्थान कर रहे हैं, जो महंगा होने के साथ-साथ असुविधाजनक और असुरक्षित विकल्प है। रेल मंत्रालय भारत सरकार द्वारा प्रवासी श्रमिको को उनके गृह राज्य तक पहुँचाने के लिऐ स्पेशल ट्रेनों की व्यवस्था की गई है। मध्यप्रदेश सरकार द्वारा अब तक 85 श्रमिक स्पेशल ट्रेनों के माध्यम से लगभग एक लाख सात हजार प्रवासी श्रमिकों को अन्य राज्यों से सकुशल मध्यप्रदेश वापस लाया जा चुका है और यह प्रक्रिया निरंतर जारी है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने पत्र में कहा कि पश्चिम बंगाल के जो मजदूर भाई-बहन इन्दौर से अपने घर जाना चाहते है, उनकी सुविधा के लिए केन्द्रीय रेल मंत्रालय को अपने राज्य की ओर से इन्दौर एवं कोलकाता के मध्य एक विशेष ट्रेन चलाए जाने की आवश्यकता से अवगत कराए जाने का अनुरोध किया है।

Dakhal News

Dakhal News 18 May 2020


indore, Number of infected, reached 9800,  98 dead

इंदौर। कोरोना महामारी से जंग लड़ रहे शहर में 61 नए संक्रमित पाए गए हैं। इसके साथ ही यहां कोरोना संक्रमित मरीजों का आंकड़ा बढ़कर 2300 के करीब पहुंच गया है।    स्वास्थ्य विभाग द्वारा गुरुवार देर रात जारी किए गए बुलेटिन के अनुसार इंदौर जिले में 61 नए संक्रमित मरीज सामने आए हैं। इन्हें मिलाकर जिले में अब तक 2299 कोरोना संक्रमित सामने आ चुके हैं। वहीं, गुरुवार को दो कोरोना संक्रमितों की मौत भी हुई। जिसके बाद कोरोना के कारण मरने वालों की संख्या भी 98 पर पहुंच गई है। शहर में लगातार संक्रमितों के सामने आने से प्रशासन समेत आम लोगों के बीच भी चिंता बनी हुई है। इसके बीच राहत देने वाली बात यह है कि जिले में अब तक 1098 लोग कोरोना से जंग जीत चुके हैं और स्वस्थ होने के बाद विभिन्न अस्पतलों से डिस्चार्ज हो चुके हैं। गुुरुवार को कोविड अस्पतालों से 59 मरीज स्वस्थ होकर घर पहुंचे। अरबिंदो से 33, इंडेक्स से 22, चोइथराम से 2 और एमआर टीबी अस्पताल से 2 मरीजों को डिस्चार्ज किया गया। अरबिंदो में अब तक 1057 मरीज भर्ती हुए हैं, इनमें से 556 यानी लगभग 52 प्रतिशत मरीज स्वस्थ होकर घर जा चुके हैं।

Dakhal News

Dakhal News 15 May 2020


chamoli, first worship ,Shri Badrinath Dham , Brahma Muhurt ,Prime Minister Modi

श्री बदरीनाथ धाम (चमोली)। विश्व प्रसिद्ध श्री बदरीनाथ धाम के कपाट निर्धारित तिथि पर आज तड़के 4 बजकर 30 मिनट पर ब्रह्म मुहूर्त में विधि-विधान से पूजा अर्चना के साथ खोल दिए गए। शुक्रवार, जेष्ठ माह, कृष्ण अष्टमी तिथि, कुंभ राशि धनिष्ठा नक्षत्र, ऐंद्रधाता योग के शुभ मुहूर्त पर कपाट खुले। कपाटोद्घाटन मे मुख्य पुजारी रावल, धर्माधिकारी भुवन चन्द्र उनियाल, राजगुरु, हक-हकूकधारियों सहित केवल 11 लोग ही शामिल हो सके। इस दौरान मास्क के साथ शारीरिक दूरी का पालन किया गया। इससे पूर्व पूरे मंदिर परिसर को सेनेटाइज्ड किया गया।   इस बार सेना के बैंड की सुमधुर ध्वनि, भक्तों का हुजूम, भजन मंडलियों की स्वर लहरियां बदरीनाथ धाम में नहीं सुनायी दी। इस यात्रा वर्ष में कोरोना महामारी के कहर का प्रभाव उत्तराखंड के चार धामों पर भी पड़ा है। बदरीपुरी में आश्रम, दुकानें, छोटे-बड़े  होटल, रेस्टोरेंट तथा ढाबे बंद है। कपाट खुलने के बाद वेद मंत्रों की ध्वनियों से बदरीशपुरी गुंजायमान  जरूर हो गयी तथा मंदिर फूलों की सजावट के साथ बिजली की रोशनी से जगमगा रहा था। इस यात्रा वर्ष में कोरोना महामारी को देखते हुए चार धाम यात्रा शुरू नहीं हो सकी है‌। केवल कपाट खोले गये हैं। कपाट खुलने को लेकर देवस्थानम बोर्ड ने तैयारियां पूरी कर ली थी। इसी के तहत आज तड़के तीन बजे से श्री बदरीनाथ धाम में कपाट खुलने की प्रक्रिया शुरू होने लगी। देवस्थानम बोर्ड के अधिकारी, सेवादार -हक हकूकधारी मंदिर परिसर के निकट पहुंच गये। श्री कुबेर जी बामणी गांव से बदरीनाथ मंदिर परिसर में पहुंचे तो रावल जी एवं डिमरी हक हकूकधारी भगवान के सखा उद्धव जी एवं गाडू घड़ा तेल कलश  लेकर द्वार पूजा हेतु पहुंचे। वैदिक मंत्रों के उच्चारण के साथ द्वार पूजन का कार्यक्रम संपन्न हुआ। उसके बाद  प्रात: 4 बजकर  30 मिनट पर  रावल  ईश्वरी प्रसाद नंबूदरी  द्वारा श्री बदरीनाथ धाम के कपाट खोल दिये गये। श्री बदरीनाथ मंदिर के कपाट खुलते ही  माता लक्ष्मी जी को मंदिर के गर्भ गृह से रावल जी द्वारा मंदिर परिसर स्थित लक्ष्मी मंदिर में रखा गया। श्री उद्धव जी एवं कुबेर जी बदरीश पंचायत के साथ विराजमान हो गये।   कपाट खुलने के पश्चात मंदिर में शीतकाल में ओढे गये घृत कंबल को प्रसाद के रूप में वितरित किया गया। माणा गांव द्वारा तैयार हाथ से बुने गये घृत कंबल  को कपाट बंद होने के अवसर पर भगवान बदरी विशाल को ओढ़ाया जाता है। श्री बदरीनाथ धाम के कपाट खुलने के साथ ही मानवमात्र के रोग शोक की निवृत्ति, आरोग्यता एवं विश्व कल्याण की कामना की गयी‌। भगवान बदरी विशाल की प्रथम  पूजा-अर्चना प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की तरफ से मानवता के कल्याण आरोग्यता  के लिए आज 9 बजे की जाएगी। आन लाइन बुक हो चुकी पूजाओं को यात्रियों की ओर से उनके नाम  संपादित किया जायेगा। श्री बदरीनाथ धाम के कपाट खुलने के साथ ही मंदिर परिसर में स्थित माता लक्ष्मी मंदिर, श्री गणेश मंदिर, हनुमान जी, भगवान बदरी विशाल के द्वारपाल घंटाकर्ण  जी का मंदिर परिक्रमा स्थित छोटा मंदिर तथा आदि केदारेश्वर  मंदिर, आदि गुरु शंकराचार्य मंदिर के द्वार खुल गये। माणा के निकट स्थित श्री माता मूर्ति मंदिर तथा श्री भविष्य बदरी मंदिर सुभाई तपोवन के कपाट भी श्री बदरीनाथ धाम के कपाट खुलने के साथ ही खुल गये है। बदरीनाथ स्थित खाक चौक में हनुमान मंदिर के द्वार भी आज  खुल गये है।    मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने श्री बदरीनाथ धाम के कपाट खुलने पर देश-विदेश के श्रद्धालुओं को शुभकामनाएं दी है। उन्होंने आशा प्रकट की है कि शीघ्र कोरोना महामारी समाप्त हो जायेगी। यथा शीघ्र उत्तराखंड चारधाम यात्रा शुरू होगी तथा तीर्थ यात्री दर्शनों के लिए पहुंच सकेंगे। प्रदेश के पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज ने श्री बदरीनाथ धाम के कपाट खुलने पर बधाई दी है। उन्होंने कहा कि भगवान बदरी विशाल के कपाट खुलते ही अब उत्तराखंड के चारों धामों के कपाट खुल गये हैं। उचित समय पर चार धाम यात्रा भी शुरू हो जायेगी। इसके लिए वह केंद्र से भी लगातार संपर्क में हैं। चारधाम विकास परिषद के उपाध्यक्ष आचार्य शिव प्रसाद ‌ममगाई‌ ने भी श्री बदरी नाथ धाम के कपाट खुलने पर प्रसन्नता जताई है।पर्यटन सचिव दिलीप जावलकर के अनुसार बदरीनाथ धाम के कपाट खुलते ही उत्तराखंड चारधाम के कपाट खुलने की प्रक्रिया पूरी हो चुकी है। आगे पर्यटन-तीर्थाटन को गति दिये जाने हेतु  शासन स्तर पर निरंतर कार्य गतिमान है।   उत्तराखंड चारधाम देवस्थानम बोर्ड के सीईओ एवं गढ़वाल आयुक्त रमन रविनाथ ने बताया कि श्री बदरीनाथ धाम के कपाट खुलने के दौरान देवस्थानम बोर्ड द्वारा उच्च स्तरीय दिशानिर्देशों का पालन सुनिश्चित किया गया। कपाट खुलने के अवसर पर रावल ईश्वरी प्रसाद नंबूदरी सहित देवस्थानम बोर्ड के प्रभारी अधिकारी बीडी सिंह, नायब तहसीलदार प्रदीप नेगी, धर्माधिकारी भुवन चंद्र उनियाल,अपर धर्माधिकारी सत्यप्रसाद चमोला, थानाध्यक्ष सत्येंद्र सिंह, अभिसूचना निरीक्षक सूर्य प्रकाश शाह आदि मौजूद रहे। श्री बदरीनाथ धाम में लॉक डाउन पूरी तरह लागू है। दुकानें, होटल, ढाबे, आश्रम आदि बंद है। निकटवर्ती गांवों बामणी एवं माणा में भी आवाजाही नहीं है। तप्त कुंड, ब्रह्म कपाल  तथा स्नान घाट भी शांत है  और अलकनंदा नदी का धीमा स्वर सुनाई दे रहा है। उत्तराखंड चारधाम देवस्थानम बोर्ड के मीडिया प्रभारी डा.हरीश गौड़ ने बताया कि कोरोना लॉक डाउन के मद्देनजर शारीरिक दूरी सहित सरकारी एडवाइजरी का पालन किया गया। मास्क पहने गये एवं साफ सफाई का ध्यान रखा गया।    उल्लेखनीय है उत्तराखंड के चार धामों के कपाट खुल चुके हैं जबकि कोरोना महामारी संकट टलने के बाद शीघ्र चारधाम यात्रा शुरू होने की उम्मीद जताई जा रही है। श्री केदारनाथ धाम के कपाट 29 अप्रैल तथा श्री गंगोत्री एवं यमुनोत्री धाम के कपाट अक्षय तृतीया पर 26 अप्रैल को खुल चुके हैं। द्वितीय केदार मद्महेश्वर जी के कपाट कपाट 11 मई को खुल चुके हैं जबकि तृतीय केदार तुंगनाथ जी के कपाट 20 मई को तथा चतुर्थ केदार रुद्रनाथ जी के कपाट 18 मई को प्रात: खुलेंगे।

Dakhal News

Dakhal News 15 May 2020


new delhi, Corona, did not stop, four states, 70 percent , new cases

नई दिल्ली। देश में कोरोना के नए मामले आने का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है। खासकर महाराष्ट्र, दिल्ली, तमिलनाडु और गुजरात में कोरोना के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। देश में रोजाना बढ़ने वाले कुल नए मामलों में से 70 फीसदी यही से रिपोर्ट हो रहे हैं। केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक अकेले महाराष्ट्र में ही कोरोना के 40 फीसदी नए मामले सामने आए हैं। दूसरे नंबर पर तमिलनाडु है जहां 11 फीसदी मामले सामने आए हैं। तीसरे नंबर पर दिल्ली है, जहां 10 फीसदी नए मामले दर्ज हुए। जबकि चौथे स्थान पर गुजरात है, जहां से आठ फीसदी नए मामले रिपोर्ट हुए हैं। यानि इन चार राज्यों में ही 70 फीसदी मामले सामने आ रहे हैं। देश में कोरोना के कुल 81,970 मामले सामने आ चुके हैं।   गोवा और छत्तीसगढ़ से भी आए कोरोना के नए मामले कोरोना मुक्त हो चुके गोवा में शुक्रवार को कोरोना के सात नए मामले सामने आए हैं। इससे पहले गोवा में सात मामले आए थे और सभी स्वस्थ हो चुके थे। लिहाजा यह राज्य कोरोना मुक्त हो चुका था। छत्तीसगढ़ में भी कई दिनों से कोरोना का एक भी नया मामला सामने नहीं आया था। वहां भी कोरोना का एक मामला सामने आया है। यहां कुल 60 कोरोना मरीजों में से 56 मरीज ठीक हो चुके हैं।    देश में मरीजों के स्वस्थ्य होने की रफ्तार 34 फीसदी   देश में कुछ राज्यों में मरीजों के स्वस्थ होने की रफ्तार तेज है, जिसमें छत्तीसगढ़, केरल, तेलंगाना, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड शामिल हैं। इन राज्यों में स्वस्थ होने की रफ्तार 93 प्रतिशत से लेकर 53 प्रतिशत तक है।

Dakhal News

Dakhal News 15 May 2020


bhopal, Speculations, CM Shivraj, cabinet expansion, met Governor, Lalji Tandon

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान बुधवार को दोपहर में राजभवन पहुंचे और राज्यपाल लालजी टण्डन से मुलाकात की। इस दौरान दोनों के बीच करीब 50 मिनट तक लम्बी चर्चा  हुई। बताया जा रहा है कि मुख्यमंत्री ने राज्यपाल को प्रदेश में कोरोना की स्थिति की जानकारी देकर राज्य सरकार द्वारा किये जा रहे कार्यों से अवगत कराया, लेकिन इधर इस मुलाकात के बाद मीडिया में शिवराज मंत्रिमंडल के विस्तार की अटकलें फिर से तेज हो गई हैं। कहा जा रहा है कि सीएम शिवराज जल्द ही अपने मंत्रिमंडल का विस्तार सक सकते हैं।मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट कर उनकी राज्यपाल से मुलाकात की जानकारी दी। वे बुधवार को दोपहर सवा 12 बजे राजभवन पहुंचे और राज्यपाल लालजी टंडन से प्रदेश में कोरोना की स्थिति को लेकर चर्चा की। उन्होंने ट्वीट कर बताया कि करीब 50 मिनट की इस मुलाकात में उन्होंने राज्यपाल महोदय को जीवन-शक्ति-योजना अंतर्गत बहनों द्वारा बनाए जा रहे फेस मास्क के संबंध में विस्तार से  जानकारी देकर मास्क का नमूना भी भेंट किया। उन्होंने बताया कि जीवन-शक्ति-योजना में बहनों ने अब तक 6 लाख से अधिक मास्क तैयार किए हैं, जिसकी राशि 66 लाख रुपये उनके बैंक खातों में भी जमा की जा चुकी है। इसके माध्यम से हम कोविड-19 से बचाव के लिए मास्क की कमी पूरी करने के साथ बहनों को रोजगार देने का भी काम कर रहे हैं।इधर, मुख्यमंत्री और राज्यपाल की इस मुलाकात से मंत्रिमंडल विस्तार की चर्चाएं भी फिर तेज हो गई हैं। मीडिया में अटकलें लगाई जा रही हैं कि लॉकडाउन 3.0 के खत्म होते ही मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान अपने मंत्रिमंडल का विस्तार कर सकते हैं।गौरतलब है कि कमलनाथ के मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देने के बाद कांग्रेस की सरकार गिर गई थी और 23 मार्च को शिवराज सिंह चौहान ने प्रदेश के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी। इसके बाद उन्होंने रिकॉर्ड 29 दिन तक अकेले सरकार चलाई और फिर गत 21 अप्रैल को पांच मंत्रियों को शपथ ग्रहण कराकर अपने मिनी मंत्रिमंडल का गठन किया। पांच मंत्रियों के साथ मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान कारोना के खिलाफ जंग में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं, लेकिन बुधवार को राज्यपाल के बाद हुई मुलाकात के बाद फिर से मंत्रिमंडल विस्तार की अकटलें लगनी शुरू हो गई हैं। आगामी 17 मई को लॉकडाउन 3.0 समाप्त हो गया। बताया जा रहा है कि लॉकडाउन 4.0 शुरू होते ही शिवराज मंत्रिमंडल का विस्तार हो सकता है। संभावना है कि मंत्रिमंडल में 22 से 24 मंत्री शामिल हो सकते हैं।

Dakhal News

Dakhal News 13 May 2020


bhopal, Kamal Nath, lashed out ,CM Shivraj, , government,Vallabh Bhavan

भोपाल। कोरोना संकट के बीच भी प्रदेश की राजनीति उफान पर है। सत्ता गंवाकर विपक्ष में बैठी कांग्रेस किसी भी मौके को छोड़ना नहीं चाहती है और हर मोर्चे पर सरकार को घेरने के लिए पूरी तरह से तैयार है। ऐसे में मप्र के पूर्व सीएम और कांग्रेस प्रदेश अक्ष्यक्ष कमलनाथ लगातार प्रवासी मजदूरों के मामले पर सरकार पर हमला बोल रहे है और शिवराज सरकार पर मजदूरों की अनदेखी और भेदभाव करने का आरोप लगा रहे हैं।    कमलनाथ ने बुधवार को एक के बाद एक कई ट्वीट कर शिवराज सरकार पर गंभीर आरोप लगाए हैं। उन्होंने ट्वीट कर लिखा है कि ‘शिवराज जी आँखे खोलो, नींद से जागो, बेबस, लाचार मज़दूरों की दशा देखो, उनकी सुध लो। वल्लभ भवन से सरकार को बाहर निकालो। आपके सारे दावे हवा- हवाई साबित हुए है। प्रदेश की सीमाएँ, प्रमुख मार्ग आज भी मज़दूरों से भरे पड़े हुए है। उनकी कोई सुध लेने वाला नहीं है। उन्हें घर जाने के लिये कोई साधन की व्यवस्था नहीं, कोई नियमों का पालन नहीं।   कमलनाथ ने एक अन्य ट्वीट कर कहा है कि ‘कोई पैदल, कोई बैल की जगह ख़ुद को लगाकर हाँक रहा है, कोई साईकल से, कोई अन्य साधन से अपनी मंज़िल की और जा रहा है। सरकार व जिम्मेदार सब नदारद है। ये भूखे- प्यासे मजदूर बेहद तकलीफ से गुजर रहे है। कमलनाथ ने सरकार पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए कहा कि ‘आपकी यह लापरवाही प्रदेश को एक बड़े संकट में भी डालेगी। बाहर से प्रदेश वापस आ रहे हजारों मजदूरों की स्क्रीनिंग की कोई व्यवस्था नहीं, कोई मेडिकल चेकअप नहीं, कोई सोशल डिसटेंसिंग का पालन नहीं। इससे कोरोना संक्रमण का खतरा गाँवो की और बढ़ता जा रहा है।   कमलनाथ ने ट्वीट कर सीएम शिवराज से कहा है कि मेरे साथ चलो, मैं लेकर चलता हूँ आपको मज़दूरों की व्यथा दिखाने। समय निर्धारित करों, मैं आपको प्रदेश की सीमाएँ व प्रमुख मार्ग जो मजदूरों से भरे पड़े है, दिखाने ले चलता हूँ। आपके सारे दावों व व्यवस्थाओं की वास्तविकता आप ख़ुद साथ चल कर देख ले। शायद इन बेबस, लाचार, निरीह मजदूरों को ख़ुद आँखो से देखकर आपका मन पसीज जाये।  

Dakhal News

Dakhal News 13 May 2020


bhopal,Madhya Pradesh, 228 deaths, due to corona, 102 new cases , 4088 infected

भोपाल। मध्यप्रदेश में बीती देर रात से बुधवार सुबह तक कोरोना का 102 नये पॉजिटिव मरीज सामने आए हैं, जबकि तीन लोगों की मौत की पुष्टि हुई है। इसके साथ ही प्रदेश में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या चार हजार के पार पहुंचकर 4088 हो गई है। वहीं, राज्य में अब तक कोरोना से 228 लोगों की मौत हो चुकी है।इंदौर के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी (सीएमएचओ) डॉ. प्रवीण जडिय़ा ने बुधवार को बताया कि एमजीएम मेडिकल कॉलेज द्वारा मंगलवार को देर रात 1026 सेम्पलों की जांच रिपोर्ट जारी की, जिसमें 935 सेम्पल निगेटिव और 91 सेम्पल पॉजिटिव आए हैं। इसके अलावा तीन लोगों की मौत की भी पुष्टि हुई है। मृतकों में एक 66 वर्षीय पुरुष और 45 वर्ष व 52 वर्ष की दो महिलाएं शामिल हैं। इन 91 नये मामलों के साथ अब इंदौर में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 2107 हो गई है, जबकि मरने वालों की संख्या 95 पहुंच गई है। इसके अलावा बुधवार को सुबह आई रिपोर्ट में सतना में दो, रतलाम में तीन, देवास में तीन और सागर में तीन पॉजिटिव मरीज सामने आए हैं। इन नये 102 प्रकरणों के साथ अब राज्य में कोरोना संक्रमित मरीजों की कुल संख्या 3986 से बढक़र 4088 हो गई है। इनमें सबसे अधिक इंदौर में 2107, भोपाल 804, उज्जैन 264, जबलपुर 137, खरगौन 92, धार 86, खंडवा 79, रायसेन 65, बुरहानपुर 60, मंदसौर 54, देवास 56, होशंगाबाद 37, नीमच 34, ग्वालियर 29, बड़वानी 26, मुरैना 25,  रतलाम 27, आगरमालवा 13,  विदिशा 13, सागर 13, शाजापुर 08, भिण्ड 08, छिंदवाड़ा 05, सतना 07, श्योपुर 04, अलीराजपुर 03, अनूपपुर 03, शहडोल 03, हरदा 03,  शिवपुरी 03, टीमकगढ़ 03, रीवा 03, डिंडौरी 02, बैतूल 01, अशोकनगर 02, पन्ना 01, झाबुआ 02. सीहोर 02, गुना 01, मंडला 01, सिवनी 01 और सीधी का एक मरीज शामिल है।इंदौर में हुई तीन मौतों के साथ अब प्रदेश में कोरोना से मरने वालों की संख्या 228 हो गई है। मृतकों में सबसे अधिक इंदौर के 95, भोपाल 34, उज्जैन 45, खरगौन 08, देवास 07, बुरहानपुर 06, धार, 02, जबलपुर 07, खंडवा 07, रायसेन 03,  छिंदवाड़ा 01, मंदसौर 04, होशंगाबाद 03,  अशोकनगर 01, आगर मालवा 01, सतना 01, सागर 01 और शाजापुर का एक व्यक्ति शामिल है।  

Dakhal News

Dakhal News 13 May 2020


bhopal, Madhya Pradesh, 135 new cases , corona,3920 infected

भोपाल। मध्य प्रदेश में कोरोना के 135 नये मामले सामने आए हैं और दो लोगों की मौत हो गई है। इसके साथ ही राज्य में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़कर अब 3920 हो चुकी है और मरने वालों की संख्या 223 पहुंच गई है। मंगलवार को इंदौर के जिला चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी (सीएमएचओ) डॉ. प्रवीण जड़िया ने बताया कि एमजीएम मेडिकल कॉलेज द्वारा सोमवार की देर रात 1044 सेम्पलों की जांच रिपोर्ट जारी की गई, जिसमें 81 व्यक्ति पॉजिटिव पाए गए हैं। इसके अलावा दो लोगों की कोरोना से मरने वालों की भी पुष्टि हुई है। मृतकों में 62 वर्षीय एक महिला और 95 वर्षीय पुरुष शामिल है। नये 81 मामले सामने आने के बाद इंदौर में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 2016 हो चुकी है, जबकि कोरोना से मरने वालों की संख्या 92 हो गई है। उज्जैन में भी 23 नये मामले सामने आए हैं। इसके साथ ही यहां कोरोना संक्रमित मरीजों की कुल संख्या 264 हो गई है, जबकि 45 लोगों की मौत हो चुकी है। इसी तरह खंडवा में भी 20 नये पॉजिटिव मरीज मिलने के बाद जिले में कोरोना संक्रमितों की संख्या 79 हो गई है। इसके अलावा रतलाम में 52 वर्षीय एक महिला कोरोना पॉजिटिव निकली है, जबकि मंगलवार की सुबह आई रिपोर्ट में खरगौन में तीन और धार में सात मरीज संक्रमित मिले हैं। इन सभी को मिलाकर प्रदेश में 135 नये प्रकरण सामने आए हैं।इन नये मामलों को मिलाकर अब प्रदेश में कोरोना संक्रमित मरीजों की कुल संख्या 3920 हो गई है। इनमें सबसे अधिक इंदौर में 2016, भोपाल 774, उज्जैन 264, जबलपुर 133, खरगौन 92, धार 86, रायसेन 64, खंडवा 79, बुरहानपुर 60, मंदसौर 51, देवास 48, होशंगाबाद 36, नीमच 27, बड़वानी 26, रतलाम 24, मुरैना 22, ग्वालियर 26, विदिशा 13, आगरमालवा 13, शाजापुर 08, सागर 10, छिंदवाड़ा 05, श्योपुर 04, अलीराजपुर 03, शहडोल 03, हरदा 03,  शिवपुरी 03, टीमकगढ़ 03, सतना 04, रीवा 03, अनूपपुर 03, भिण्ड 04, डिंडौरी 02, बैतूल 01, अशोकनगर 02, पन्ना 01, सतना 02, झाबुआ 02. सीहोर 02, गुना 01, मंडला 01 और सिवनी का एक मरीज शामिल है। वहीं, इंदौर में हुई दो मौतों के साथ प्रदेश में कोरोना से मरने वालों की संख्या 223 हो गई है। मृतकों में सबसे अधिक इंदौर के 92, भोपाल 33, उज्जैन 45, खरगौन 08, देवास 07, बुरहानपुर 05, धार, 02, जबलपुर 07, खंडवा 07, रायसेन 03,  छिंदवाड़ा 01, मंदसौर 04, होशंगाबाद 03,  अशोकनगर 01, आगर मालवा 01, सतना 01, सागर 01 और शाजापुर का एक व्यक्ति शामिल है।

Dakhal News

Dakhal News 12 May 2020


new delhi, Indian helicopters, chased Chinese helicopter, Ladakh border

नई दिल्ली। भारत-चीन सीमा पर फिर एक बार तनाव बढ़ता दिखा रहा है। पिछले दिनों उत्तरी सिक्किम और लद्दाख में भारतीय और चीनी सैनिकों के बीच भिड़ंत होने के बाद दोनों देशों के बीच तनाव चरम पर है। इसी का नतीजा रहा कि आज लद्दाख बॉर्डर पर चीन के हेलीकॉप्टर भारतीय सीमा के बहुत करीब आ गए लेकिन भारतीय लड़ाकू विमानों ने इन्हें खदेड़ दिया। चीनी सैन्य हैलिकॉप्टर को उड़ान भरते देख भारत ने भी इस इलाके में अपने लड़ाकू विमान तैनात कर दिए हैं। पूर्वी लद्दाख सेक्टर में 5 और 6 मई को भारतीय और चीनी सैनिकों के बीच आमना-सामना हुआ। दोनों पक्षों के बीच स्थानीय स्तर पर मामला सुलझ गया था। इसके बाद 9 मई को फिर उत्‍तरी सिक्किम में भारत-चीन सीमा पर भारतीय और चीनी सैनिकों के बीच झड़प हुई।    उत्तरी सिक्किम में लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल (एलएसी) पर भारतीय सेना के जवानों और चीनी पीपुल्स लिबरेशन (पीएलए) के बीच यह भिड़ंत तब हुई थी जब शनिवार को दोनों देशों की सेनाएं नियमित गश्त पर थीं। तभी उत्‍तरी सिक्किम के नाकू ला सेक्‍टर में यह झड़प हुई। हालांकि यह मामला स्थानीय स्तर पर ही सुलझा लिया गया लेकिन दोनों पक्षों की तरफ से आक्रामक रवैया रहा, जिसके कारण दोनों पक्षों के सैनिक मामूली रूप से घायल हो गए। नाकु ला क्षेत्र पांच हजार मीटर से अधिक ऊंचाई पर स्थित है, जो सड़क मार्ग से जुड़ा नहीं है।    इन घटनाओं के बाद 150 से अधिक चीनी सैनिकों ने भारतीय क्षेत्र में घुसपैठ की कोशिश की थी। भारतीय और चीनी सैनिकों के बीच हाथापाई होने की बात की पुष्टि करते हुए सेना की पूर्वी कमान ने एक बयान में कहा था कि आक्रामक हरकतें हुईं, जिसमें दोनों तरफ के सैनिकों को चोटें आईं। फिलहाल मामले को सुलझा लिया गया है।    भारत और चीन के सैनिकों के बीच हुई झड़प के बाद दोनों देशों के बीच तनाव के बीच आज लद्दाख बॉर्डर पर चीन के हेलीकॉप्टर भारतीय सीमा के बहुत करीब आ गए। चीनी सैन्य हैलिकॉप्टर को उड़ान भरते देख भारत ने भी इस इलाके में अपने लड़ाकू विमान तैनात कर दिए हैं। लद्दाख सीमा पर चीनी हेलीकॉप्टर देखे जाने के तुरंत बाद भारतीय वायुसेना अलर्ट हो गई। भारतीय लड़ाकू विमानों ने लद्दाख सीमा की ओर उड़ान भरी और चीनी चॉपर्स को वापस लौटना पड़ा। वायुसेना ने इसके बाद वहां गश्त बढ़ा दी है।    सरकार के शीर्ष सूत्रों ने बताया कि जैसे ही चीनी हेलिकॉप्टरों की आवाजाही शुरू हुई तो भारतीय लड़ाकू विमानों को लद्दाख सेक्टर के सीमावर्ती क्षेत्रों में ले जाया गया। भारतीय वायु सेना के लड़ाकू विमान ने नजदीकी बेस कैंप से उड़ान भरी थी। भारतीय वायु क्षेत्र का उल्लंघन करने से पहले ही चीनी हेलिकॉप्टर को वापस खदेड़ दिया गया। इससे पहले भी चीन की सेना ने भारतीय सेना के साथ एलएसी पर भिड़ने की कोशिश की है लेकिन ऐसा काफी लंबे समय बाद हुआ है, जब भारत ने लड़ाकू विमानों को तैनात करके वायु क्षेत्रों का उल्लंघन करने के चीनी प्रयासों का जवाब दिया है। डोकलाम विवाद के बाद ये पहला मौका है जब दोनों देशों के सेनाओं के बीच इतना तनाव देखा जा रहा है। चीन की किसी भी हरकत का जवाब देने के लिए भारतीय सेनाएं भी सतर्क हैं।    

Dakhal News

Dakhal News 12 May 2020


new delhi, Prime Minister, will address , country ,8 pm today

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी आज शाम आठ बजे देश को संबोधित करेंगे। प्रधानमंत्री कार्यालय ने मंगलवार को ट्वीट कर यह जानकारी दी है। देश में कोरोना वायरस महामारी के कारण लागू पूर्णबंदी (लॉकडाउन) के बीच देश के नाम यह प्रधानमंत्री का चौथा संबोधन होगा। समझा जा रहा कि इस संबोधन के दौरान वह लॉकडाउन से जुड़े मुद्दे और गतिविधियों को लेकर देशवासियों के समक्ष अपनी बात रखेंगे।   इससे पहले मोदी ने गत सोमवार को वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए राज्यों व केंद्र शासित प्रदेशों के मुख्यमंत्रियों व उप राज्यपालों से चर्चा की थी। इस चर्चा के दौरान कई मुख्यमंत्रियों ने महामारी के मद्देनजर लॉकडाउन को जारी रखने की सलाह दी है। पंजाब, महाराष्ट्र, पश्चिम बंगाल समेत कई राज्यों के मुख्यमंत्रियों का सुझाव था कि लॉकडाउन को जारी रखा जाए अन्यथा स्थिति बिगड़ सकती है। उल्लेखनीय है कि बीते 25 मार्च से शुरू हुआ देशव्यापी लॉकडाउन 21 दिन की अवधि के बाद दो बार बढ़ाया जा चुका है। अब इसे 17 मई को समाप्त होना है।

Dakhal News

Dakhal News 12 May 2020


bhopal, 5 workers killed, 13 injured, truck overturns ,Madhya Pradesh

नरसिंहपुर। मध्यप्रदेश के नरसिंहपुर जिले की सीमा पर एक बड़े सड़क हादसे में पांच मजदूरों की मौत हो गई। नरसिंहपुर जिले के मुंगवानी क्षेत्र में शनिवार-रविवार देर रात आम से भरा एक ट्रक अनियंत्रित होकर पलट गया। हादसे में पांच मजदूरों की मौके पर ही मौत हो गई, जबकि हादसे में घायल हुए 13 मजदूरों का इलाज चल रहा है। ट्रक में 20 मजदूर सवार थे। यहां मौके पर क्रेन और जेसीबी की मदद से रेस्क्यू अभियान चलाकर किसी तरह अन्‍य की जान बचाई जा सकी है।   अपर कलेक्टर मनोज ठाकुर के मुताबिक ट्रक में सवार कुल 20 मजदूर, जिसमें से 11 झांसी और 9 एटा के रहने वाले हैं। लॉकडाउन के चलते उत्‍तर प्रदेश के रहनेवाले ये सभी मजदूर ट्रक में सवार होकर हैदराबाद से अपने घर वापस लौट रहे थे। तभी मध्यप्रदेश के नरसिंहपुर जिले के मुगवानी थाना क्षेत्र में श्रमिकों को लेकर जा रहा यह ट्रक अनियंत्रित होकर पेड़ से जा टकराया और पलट गया, जिसमें सवार पांच मजदूरों की मौत हो गई, जबकि तेरह घायल हो गए हैं।   उन्‍होंने बताया‍ कि घटना की जानकारी लगते ही कलेक्टर दीपक सक्सेना एवं पुलिस अधीक्षक गुरकरन सिंह सहित पुलिस बल व अन्य अधिकारी-कर्मचारी मौके पर पहुंच गये थे। इस संबंध में मजदूरों के स्‍वास्‍थ्‍य को लेकर सिविल सर्जन डॉक्टर अनीता अग्रवाल ने बताया कि हादसे में जख्मी दो मजदूरों की गंभीर हालत को देखते हुए उन्‍हें जबलपुर के लिए रेफर किया गया है। वहीं अन्य की हालत स्थिर हैं। उन्होंने कहा कि एक मजदूर को 3 दिनों से खांसी, जुकाम और बुखार है। सभी की जांच के लिए नमूने लिए गए हैं, जिनमें मृत भी शामिल हैं।   वहीं, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक राजेश तिवारी का कहना है कि हैदराबाद से उत्तर प्रदेश जा रहा यह ट्रक कल रात नरसिंहपुर-नागपुर मार्ग पर पाठा गांव के समीप अनियंत्रित होकर एक पेड़ से टकराकर पलट गया था। दुर्घटना में पांच श्रमिकों की मृत्यु हो गई और तेरह श्रमिक घायल हो गए हैं। सभी घायल श्रमिकों को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। ट्रक में 20 मजदूर सवार थे।   सीएम शिवराज ने श्रमिकों की मौत पर दुख व्‍यक्‍त किया मध्यप्रदेश के नरसिंहपुर जिले में हुए इस ट्रक हादसे को लेकर श्रमिकों की मृत्यु पर सीएम शिवराज ने शोक जताते हुए सभी मृतक श्रमिकों को अपनी विनम्र श्रद्धांजलि अर्पित की है। मुख्‍यमंत्री सिंह ने सोशल मीडिया ट्विटर के माध्‍यम से ट्वीट करते हुए कहा कि ''नरसिंहपुर में ट्रक पलटने से हुए हादसे में कई अनमोल जिंदगियों के असमय काल कवलित और घायल होने के समाचार से अत्यंत दुखी हूं। ईश्वर से दिवंगत आत्माओं की शांति और परिजनों को संबल प्रदान करने की प्रार्थना करता हूं। विनम्र श्रद्धांजलि!'' इसके बाद एक दूसरे ट्वीट में उन्‍होंने लिखा कि ''घायलों के समुचित इलाज एवं अन्य व्यवस्थाओं के लिए मौके पर प्रशासन के उच्च अधिकारी उपस्थित हैं। मैं ईश्वर से घायलों के शीघ्र स्वस्थ होने की करबद्ध प्रार्थना करता हूं।''

Dakhal News

Dakhal News 10 May 2020


indore,  new 78 cases,total of 1858 people,infected ,89 deaths

इंदौर। मध्यप्रदेश की आर्थिक राजधानी इंदौर में कोरोना का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा है। यहां बीती देर रात कोरोना के 78 नये मामले सामने आए हैं, जबकि दो लोगों की मौत की पुष्टि हुई है। इसके साथ ही इंदौर में अब कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 1858 पर पहुंच गई है। वहीं, शहर में कोरोना से अब तक 89 लोगों की मौत हो चुकी है।इंदौर के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी (सीएमएचओ) डॉ. प्रवीण जडिय़ा ने रविवार को बताया कि एमजीएम मेडिकल कॉलेज द्वारा शनिवार को देर रात 1105 सेम्पलों की जांच रिपोर्ट जारी की गई, जिसमें 78 व्यक्ति पॉजिटिव पाये गये हैं, जबकि शेष सेम्पल निगेटिव आए हैं। वहीं, इंदौर में दो लोगों की कोरोना से मौत की भी पुष्टि हुई है। मृतकों में एक 65 वर्षीय महिला और 69 वर्षीय पुरुष शामिल है और दोनों महू के रहने वाले थे। नये पॉजिटिव मामलों को मिलाकर अब इंदौर में संक्रमित मरीजों की कुल संख्या 1858 और शहर में कोरोना से मरने वालों की संख्या 89 हो गई है।सीएमएचओ डॉ. जडिय़ा ने बताया कि अब तक शहर में 891 मरीज कोरोना को परास्त कर चुके हैं और उनकी दूसरी बार रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद उन्हें अस्पतालों से डिस्चार्ज कर दिया गया है। अभी इंदौर में कोरोना के 878 मरीज विभिन्न अस्पतालों में भर्ती है और उनका उपचार जारी है।

Dakhal News

Dakhal News 10 May 2020


sikkim, Clash between ,Indian and Chinese soldiers , light injuries

गंगटोक। सिक्किम में भारत-चीन सीमा पर भारतीय और चीनी सैनिकों के बीच झड़प हुई है। आपसी नोक-झोंक यह पहला मामला नहीं है। दोनों देशों के सैनिकों के बीच ऐसा तनावपूर्ण माहौल समय-समय पर बनता रहता है।   सूत्रों के अनुसार दोनों देशों की सेनाओं द्वारा नियमित गश्त के दौरान शनिवार को उत्‍तरी सिक्किम के नाकू ला सेक्‍टर में यह झड़प हुई, जिसे स्थानीय स्तर पर ही सुलझा लिया गया है। बताया गया है कि दोनों पक्षों की तरफ से आक्रामक रवैया रहा, जिस कारण दोनों पक्षों के सैनिक मामूली रूप से घायल हो गए। नाकु ला क्षेत्र पांच हजार मीटर से अधिक ऊंचाई पर स्थित है, जो सड़क मार्ग से जुड़ा नहीं है।   वहीं भारतीय सेना ने अपने बयान में माना है कि भारतीयों और चीनी सैनिकों के बीच हाथापाई हुई है। सेना की पूर्वी कमान ने एक बयान में कहा कि आक्रामक हरकतें हुईं, जिसमें दोनों तरफ के सैनिकों को चोटें आई। फिलहाल मामले को सुलझा लिया गया है।  

Dakhal News

Dakhal News 10 May 2020


bhopal, 196 people died, corona, 3309 infected patients , Madhya Pradesh

भोपाल। मध्यप्रदेश में तमाम प्रयासों के बावजूद कोरोना का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा है। प्रदेश में गुरुवार देर रात से लेकर शुक्रवार सुबह तक प्राप्त रिपोर्ट में कोरोना के 57 नये मामले सामने आए हैं, जबकि तीन लोगों की मौत हो पुष्टि हुई है। इसके साथ ही प्रदेश में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 3252 से बढक़र 3309 पर पहुंच गई है। वहीं, राज्य में इस महामारी से अब तक 196 लोगों की मौत हो चुकी है। इंदौर के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी (सीएमएचओ) डॉ. प्रवीण जडिय़ा ने शुक्रवार को बताया कि गुरुवार देर रात एमजीएम मेडिकल कॉलेज द्वारा 372 सेम्पलों की जांच रिपोर्ट जारी की गई, जिसमें 344 सेम्पल निगेटिव और 28 सेम्पल पॉजिटिव आए हैं। वहीं, कोरोना से तीन लोगों की मौत की भी पुष्टि हुई है। इसके साथ ही इंदौर में संक्रमित मरीजों की संख्या बढक़र 1727 हो गई है, जबकि कोरोना से मरने वालों की संख्या 86 पर पहुंच गई है। इसके अलावा शुक्रवार को सुबह उज्जैन जिले में कोरोना संक्रमण के 19, बुरहानपुर में पांच, रतलाम में तीन और देवास में दो संक्रमित मरीज मिले हैं। इन 57 नये मामलों को मिलाकर अब प्रदेश में कोरोना संक्रमित मरीजों की कुल संख्या 3309 हो गई है। इनमें सबसे अधिक इंदौर में 1727, भोपाल 652, उज्जैन 220, जबलपुर 115, खरगौन 80, रायसेन 64, धार 77, खंडवा 50, होशंगाबाद 36, मंदसौर 52, बुरहानपुर 43, बड़वानी 26, देवास 32, रतलाम 23, मुरैना 22, विदिशा 13, आगरमालवा 13, शाजापुर 08, सागर 05, छिंदवाड़ा 05, ग्वालियर 12, श्योपुर 04,  नीमच 04, अलीराजपुर 03, शहडोल 03, हरदा 03,  शिवपुरी 03, टीमकगढ़ 03, रीवा 02, अनूपपुर 03, बैतूल 01, डिंडौरी 01, अशोकनगर 01, पन्ना 01, सतना 01 तथा झाबुआ जिले का एक मरीज शामिल है।वहीं, इंदौर में हुई तीन लोगों की मौत के बाद प्रदेश में कोरोना से मरने वालों की संख्या 196 हो गई है। मृतकों में सबसे अधिक इंदौर के 86, भोपाल 22, उज्जैन 42, खरगौन 08, देवास 07, बुरहानपुर 04, धार, 01, जबलपुर 04, खंडवा 07, रायसेन 03,  छिंदवाड़ा 01, मंदसौर 04, होशंगाबाद 03,  अशोकनगर 01, आगर मालवा 01, सतना 01 और शाजापुर का एक व्यक्ति शामिल है।  

Dakhal News

Dakhal News 8 May 2020


bhopal, Chief Minister Shivraj ,expressed grief, over Aurangabad railway accident

भोपाल। महाराष्ट्र के औरंगाबाद में करमाड़ रेलवे स्टेशन के पास शुक्रवार सुबह एक बड़ा रेल हादसा हो गया। यहां पटरी पर सो रहे मध्य प्रदेश के 16 मजदूरों की मालगाड़ी की चपेट में आकर दर्दनाक मौत हो गई। हादसे में 1 मजदूर गंभीर रुप से घायल है, जबकि 4 मजदूर बाल-बाल बच गए। सभी मजदूर मध्यप्रदेश के शहडोल जिले के थे और जालना की एक फैक्ट्री में काम कर रहे थे। लॉकडाउन के दौरान ये भी अपने घर जाने के लिए निकले थे। रेल हादसे में मप्र के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने दुख जताते हुए पांच पांच लाख रुपये के मुआवजे की घोषणा की है।    मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने औरंगाबाद रेल हादसे में मृतक मप्र के मजदूरों की मौत पर गहरा दुख व्यक्त करते हुए परिजनों को सात्वना दी है। सीएम शिवराज ने ट्वीट कर मृतकों के परिजनों को पांच पांच लाख रुपये मुआवजा देने की घोषणा की है। सीएम ने ट्वीट कर लिखा ‘औरंगाबाद से अपने घर लौट रहे कई श्रमिक भाइयों के ट्रेन हादसे में आकस्मिक निधन का दुखद समाचार मिला। ईश्वर से दिवंगत आत्माओं की शांति और परिजनों को यह गहन दु:ख सहन करने की शक्ति देने तथा घायलों के शीघ्र स्वस्थ होने की प्रार्थना करता हूं। विनम्र श्रद्धांजलि! दु:ख की इस घड़ी में शोकाकुल परिवार स्वयं को अकेला न समझे, आपके साथ मैं और पूरी मध्य प्रदेश सरकार खड़ी है।   सीएम शिवराज ने ट्वीट कर बताया कि उन्होंने इस हादसे के संबंध में रेल मंत्री से बात की है। साथ ही प्रदेश से उच्च अधिकारियों की एक टीम जांच के लिए ओरंगाबाद जाएगी। सीएम शिवराज ने ट्वीट कर कहा ‘औरंगाबाद में हुए रेल हादसे से हृदय पर ऐसा कुठाराघात हुआ है की मैं उसे शब्दों में व्यक्त नहीं कर सकता! संवेदना से मन भर जाता है। मैंने रेल मंत्री पीयूष गोयल जी से बात की है और उनसे त्वरित जाँच और उचित व्यवस्था की माँग की है। उसके अलावा प्रदेश सरकार की तरफ़ से हर एक मृतक श्रमिक के परिजनों को पाँच लाख दिए जाएँगे, और घायलों के इलाज की पूरी व्यवस्था की जाएगी। मैं विशेष विमान से उच्च अधिकारियों की एक टीम भेज रहा हूँ, जो वहाँ पर मृतकों के अंतिम संस्कार की व्यवस्था करेगी और घायलों को हर सम्भव मदद करेगी। मैं महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे से भी लगातार बात कर रहा हूँ और घायल श्रमिकों के उपचार में कोई भी कमी न रहे उसकी व्यवस्था कर रहा हूँ।  

Dakhal News

Dakhal News 8 May 2020


mumbai, 16 workers killed, 3 injured , goods train , Aurangabad

मुंबई। औरंगाबाद जिले में सटाना के पास शुक्रवार तडक़े रेलवे पटरी पर आराम कर रहे 19 श्रमिकों को मालगाड़ी ने कुचल दिया, जिससे 16 श्रमिकों की घटनास्थल पर ही मौत हो गई। जबकि घटना में 3 श्रमिक गंभीर रूप से घायल हो गए, जिन्हें परभणी स्थित रेलवे अस्पताल में भर्ती कराया गया है। यह घटना शुक्रवार को सुबह सवा पांच बजे हुई है।   औरंगाबाद के उप विभागिय पुलिस अधिकारी सूरज नेहुल ने बताया कि घटना में धर्मेंद्र सिंह (20), बृजेंद्र सिंह (20), निर्वेश सिंह (20), धन सिंह (25), प्रदीप सिंह, राज भवन, शिवदयाल सिंह, नेमसहाय सिंह, मुनिम सिंह, बुधराज सिंह, अच्छेलाल, रविंद्र सिंह सहित 16 लोगों की मौत हो गई। सभी मृतकों के शव पोस्टमार्टम के लिए औरंगाबाद जिला अस्पताल भेजा गया है। वहीं, घटना में घायल तीन लोगों का इलाज परभणी स्थित रेलवे अस्पताल में चल रहा है।   जानकारी के अनुसार जालना जिले की एसआरजे. स्टील कंपनी में काम करने वाले मध्य प्रदेश के 19 श्रमिक एक साथ गांव जाने के लिए पैदल निकले थे। देर रात होने पर थकान की वजह से श्रमिक औरंगाबाद में बदनापुर और करमाड के बीच सटाना के पास रेलवे पटरी पर ही सो गए थे। शुक्रवार तडक़े मालगाड़ी औरंगाबाद की ओर जा रही थी, जिससे सभी मजदूर उस मालगाड़ी की चपेट में आ गए।    बताया जा रहा है कि गुरुवार को मध्यप्रदेश के श्रमिकों के लिए भोपाल के लिए एक विशेष श्रमिक ट्रेन रवाना की गई थी। सभी श्रमिक इसी आशा में पैदल चलकर भुसावल स्टेशन पर पहुंचना चाहते थे लेकिन दिनभर चलने की वजह से सभी श्रमिक थक गए थे, जिससे सटाना के पास रेलवे पटरी पर ही सो गए थे। ऐसे में आज सुबह मालगाड़ी ने इन मजदूरों को कुचल दिया।

Dakhal News

Dakhal News 8 May 2020


Sikkim,Air Force, helicopter injures ,force landing

गंगटोक। भारतीय वायुसेना (आईएएफ) के एक एमआई-17 हेलीकॉप्टर को खराब मौसम के कारण गुरुवार को सिक्किम में फोर्स लैंडिंग करनी पड़ी। पायलट को यह उस समय करना पड़ा,जब हेलीकॉप्टर नियमित वायु रखरखाव उड़ान के लिए छतेन से मुकुथांग जा रहा था।    आईएएफ का एक एमआई -17 हेलीकॉप्टर 6 कर्मियों के साथ सिक्किम में चटन से मुकुतांग के लिए नियमित हवाई रखरखाव के लिए जा रहा था। अचानक खराब मौसम के कारण हेलिपैड से 10 नॉटिकल मील की दूरी पर आज सुबह 6.45 बजे फोर्स लैंडिंग करनी पड़ी। इस दौरान हेलीकॉप्टर को नुकसान पहुंचा है। हेलीकॉप्टर में 04 एयरक्रू सदस्य और 02 भारतीय सेना के जवान थे। सभी छह कर्मी सुरक्षित हैं। एक व्यक्ति घायल है। बचाव के लिए दो रिकवरी हेलिकॉप्टर और एक आर्मी ग्राउंड सर्च पार्टी मौके पर भेजी गई है। दुर्घटना के कारणों का पता लगाने के लिए जांच का आदेश दिया गया है। 

Dakhal News

Dakhal News 7 May 2020


bhopal,187 people, have died, corona ,Madhya Pradesh, 3185

भोपाल। मध्यप्रदेश में तमाम प्रयासों के बावजूद कोरोना का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा है। प्रदेश में बुधवार देररात आई रिपोर्ट में 47 नये पॉजिटिव मामले सामने आए हैं, जबकि दो लोगों की मौत की पुष्टि हुई है। दोनों मृतक इंदौर के हैं। इसके साथ प्रदेश में कोरोना से मरने वालों की संख्या 187 हो गई, जबकि संक्रमित मरीजों की संख्या 3185 पर पहुंच गई है।इंदौर के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी (सीएमएचओ) डॉ प्रवीण जड़िया ने गुरुवार को बताया कि बुधवार देररात एमजीएम मेडिकल कॉलेज द्वारा 556 सेम्पलों की जांच रिपोर्ट जारी की गई। इसमें 538 सेम्पल निगेटिव और 18 सेम्पल पॉजिटिव आए हैं, जबकि दो लोगों की मौत की पुष्टि हुई है। इन नये मामलों के साथ अब इंदौर में कोरोना संक्रमित मरीजों की कुल संख्या 1699 हो गई है और मृतकों की संख्या 83 हो चुकी है। मृतकों में 50 वर्षीय और 54 वर्षीय दो पुरुष शामिल हैं। वहीं भोपाल सीएमएचओ डॉ प्रभाकर तिवारी के मुताबिक भोपाल में बुधवार देर रात जारी रिपोर्ट में 24 नये पॉजिटिव केस मिले हैं। इसी तरह जबलपुर में पांच नये मामले सामने आए हैं।इंदौर, भोपाल और जबलपुर में मिले नये मामलों के साथ अब प्रदेश में कोरोना संक्रमित मरीजों की कुल संख्या 3185 हो गई है। इनमें सबसे अधिक इंदौर में 1699, भोपाल 629, उज्जैन 184, जबलपुर 114, खरगौन 79, रायसेन 63, धार 76, खंडवा 50, होशंगाबाद 36, मंदसौर 40, बुरहानपुर 38, बड़वानी 26, देवास 30, रतलाम 20, मुरैना 17, विदिशा 13, आगरमालवा 13, शाजापुर 08, सागर 05, छिंदवाड़ा 05, ग्वालियर 07, श्योपुर 04, नीमच 04, अलीराजपुर 03, शहडोल 03, हरदा 03,  शिवपुरी 03, टीमकगढ़ 03, रीवा 02, अनूपपुर 03, बैतूल 01, डिंडौरी 01, अशोकनगर 01, पन्ना 01 और सतना का एक मरीज शामिल है।वहीं, इंदौर में हुई दो लोगों की मौत के बाद प्रदेश में कोरोना से मरने वालों की संख्या 187 हो गई है। मृतकों में सबसे अधिक इंदौर के 83, भोपाल 20, उज्जैन 40, खरगौन 07, देवास 07, बुरहानपुर 04, धार, 01, जबलपुर 03, खंडवा 07, रायसेन 03,  छिंदवाड़ा 01, मंदसौर 04, होशंगाबाद 03,  अशोकनगर 01, आगर मालवा 01, सतना 01 और शाजापुर का एक व्यक्ति शामिल है। 

Dakhal News

Dakhal News 7 May 2020


new delhi, India,always work ,interest of humanity, following , path of Buddha

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने गुरुवार को बुद्ध पूर्णिमा के अवसर पर कोरोना संकट से जूझ रहे विश्व को एक बड़ा संदेश देते हुए कहा कि बुद्ध भारत के बोध और आत्मबोध दोनों के प्रतीक हैं। इसी आत्मबोध के साथ भारत निरंतर मानवता और विश्व के हित में काम कर रहा है और करता रहेगा। भारत की प्रगति हमेशा विश्व की प्रगति में सहायक होगी।   बुद्ध पूर्णिमा(वेसाक) के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम को वर्चुअल माध्यम से संबोधित करते हुए मोदी ने कहा कि भगवान बुद्ध ने हमें कष्ट के समय में निराशा और दुख से दूर रहते हुए सेवा का मार्ग सुझाया है। हमें भी इस संकट की घड़ी में लोगों की सेवा करनी चाहिए और इसी को पथ प्रदर्शक मानते हुए भारत विश्व की हर संभव सहायता कर रहा है। उन्होंने कहा, “सुप्प बुद्धं पबुज्झन्ति, सदा गोतम सावका यानि जो दिन-रात, हर समय मानवता की सेवा में जुटे रहते हैं, वही बुद्ध के सच्चे अनुयायी हैं।” उन्होंने कहा कि इस मुश्किल परिस्थिति में हमें अपना, अपने परिवार का, अपने देश का ध्यान रखना चाहिए और अपनी रक्षा करते हुए यथा-संभव दूसरों की भी मदद करनी चाहिए। प्रधानमंत्री ने देश और दुनिया में भगवान बुद्ध के अनुयायियों को बुद्ध पूर्णिमा-वेसाक उत्सव की शुभकामनाएं दीं। साथ ही उन्होंने बुद्ध समुदाय द्वारा कोरोना संकट से लड़ रहे स्वास्थ्य व सेवा कर्मियों के लिए इस सप्ताह को प्रार्थना सप्ताह के रूप में मनाने के संकल्प की सराहना की।    प्रधानमंत्री ने कहा कि बुद्ध केवल एक नाम नहीं बल्कि एक पवित्र विचार हैं और जो प्रत्येक मानव के हृदय में समाया हुआ है। बुद्ध के संदेश ने भारत की संस्कृति को हमेशा दिशा दिखाई है। देश की सांस्कृतिक विरासत को समृद्ध करते हुए उन्होंने कहा है कि स्वयं अपना दीपक बनकर जगत में प्रकाश करें। आज इतने वर्षों बाद भी भगवान बुद्ध का संदेश अपनी प्रासंगिता बरकरार रखते हुए हमारे जीवन को प्रवाहमान बना रहा है। उन्होंने कहा, “बुद्ध, त्याग और तपस्या की सीमा है। बुद्ध, सेवा और समर्पण का पर्याय है। बुद्ध, मजबूत इच्छाशक्ति से सामाजिक परिवर्तन की पराकाष्ठा है। ऐसे समय में जब दुनिया में उथल-पुथल है, कई बार दुख-निराशा-हताशा का भाव ज्यादा दिखता है, तब भगवान बुद्ध की सीख और भी प्रासंगिक हो जाती है।”   मोदी ने कहा कि वर्तमान में कोरोना संकट के समय दुख और निराशा का भाव मन में आ रहा है। ऐसे में बुद्ध का संदेश हमारा मार्गदर्शक बना है। बुद्ध का कहना है कि थक कर रुक जाना विकल्प नहीं हो सकता हमें निरंतर प्रयास करना चाहिए। आज संकट की घड़ी में हम सब मिलकर यही काम कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि भागवान बुद्ध ने चार सत्य बताये हैं- दया, करुणा, समभाव व दृष्टाभाव। यह सत्य निरंतर भारत भूमि की प्रेरणा बने हुए हैं। आज भारत नि:स्वार्थ भाव से बिना किसी भेदभाव के देश और दुनिया में संकट में घिरे व्यक्ति के साथ मजबूती से खड़ा है।   प्रधानमंत्री ने कहा कि आज का समय लाभ-हानि की चिंता किए बिना लोगों की सेवा करने का है। भारत भी इसी तरह दुनिया के साथ उनके सहयोग के लिए खड़ा है। उन्होंने कहा, “आज आप भी देख रहे हैं कि भारत नि:स्वार्थ भाव से, बिना किसी भेद के, अपने यहां भी और पूरे विश्व में संकट में घिरे व्यक्ति के साथ पूरी मज़बूती से खड़ा है। आज प्रत्येक देशवासी का जीवन बचाने के लिए हर संभव प्रयास के साथ भारत अपने वैश्विक दायित्वों का भी उतनी ही गंभीरता से निभा रहा है।”   संस्कृति मंत्रालय अंतरराष्ट्रीय बौद्ध परिसंघ (आईबीसी) के सहयोग से दुनिया भर के बौद्ध संघों के सभी प्रमुखों की भागीदारी के साथ इस कार्यक्रम को आयोजित किया गया। इस अवसर पर प्रार्थना समारोहों को पवित्र गार्डन लुम्बिनी(नेपाल), महाबोधि मंदिर-बोधगया, मूलगंध कुटी विहार- सारनाथ, परिनिर्वाण स्तूप-कुशीनगर, अनुराधापुरा स्तूप परिसर (श्रीलंका), बौधनाथ, स्वायंभु, नमो स्तूप (नेपाल) के अलावा अन्य लोकप्रिय बौद्ध स्थल से लाइव स्ट्रीम किया गया। जानकारी के अनुसार वेसाक-बुद्ध पूर्णिमा को ट्रिपल धन्य दिवस के रूप में माना जाता है, तथागत गौतम बुद्ध का जन्म, ज्ञान प्राप्ति और महापरिनिर्वाण इसी दिन हुआ था। संस्कृति व पर्यटन मंत्री प्रह्लाद सिंह पटेल और खेलमंत्री किरण रिजिजू भी इस कार्यक्रम में वर्चुअल माध्यम से उपस्थित रहे।   

Dakhal News

Dakhal News 7 May 2020


bhopal, Home Minister, Narottam Mishra, start helpdesk family members, policemen

भोपाल। मध्य प्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा मंगलवार को लॉकडाउन को लेकर  पुलिस अधिकारियों की बैठक लेने पीएचक्यू पहुंचे। पुलिस मुख्यालय पहुंचने पर वहां गृहमंत्री डॉ नरोत्तम मिश्रा को गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया। इसके बाद बैठक में सबसे पहले मध्यप्रदेश के शहीद पुलिस कर्मियों को श्रद्धांजलि दी।    उन्होंने पुलिस मुख्यालय की बैठक में मध्यप्रदेश में शहीद हुए पुलिसकर्मी के परिवार वालों की सुविधा हेतु हेल्पडेस्क शुरू करने के लिए निर्देश दिए। जिसमें शहीद पुलिसकर्मी के परिवार के व्यक्ति की छोटी से छोटी समस्याओं के लिए इस हेल्प डेस्क के माध्यम से हर संभव सहायता की जाएगी।    गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने बैठक को संबोधित करते हुए कहा कि कोरोना संक्रमण में जान गवाने वाले जवानों सहित अन्य सभी ऐसे अधिकारी -कर्मचारियों, जिनका ड्यूटी के दौरान निधन हुआ हैं, उनके  परिवार की सहायता के लिए अलग से हेल्प डेस्क बनाई जाए, जहां उनकी सारी समस्याओं का समाधान हो सकें।    इसके अलावा विषम परिस्थितियों में काम करने वाले जवानों के लिए क्या किया जा सकता है, इस बात पर भी विचार किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश भोपाल के पुलिस मुख्यालय में एडीजी या आईजी रैंक के अधिकारी शहीद पुलिसकर्मियों के परिवार संबंधी समस्याओं में बच्चों के एडमिशन से लेकर अन्य असुविधा का तत्काल प्रभाव से निराकरण कराएंगे।    उल्लेखनीय है कि डॉ. मिश्रा के इस हेल्प डेस्क का आशय मध्यप्रदेश पुलिस कर्मियों के मनोबल को बढ़ाने और साथ ही उनके सेवा भाव के प्रति कृतज्ञता ज्ञापित करते हुए सभी शहीद पुलिसकर्मियों  के परिवार के लिए पालक के रूप में सरकार के कर्तव्य पालन करने का है।

Dakhal News

Dakhal News 5 May 2020


indore, Two more deaths ,corona, 43 new positive patients found

इंदौर। मध्यप्रदेश की आर्थिक राजधानी इंदौर में कोरोना का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा है। यहां सोमवार को देर रात एमजीएम मेडिकल कॉलेज द्वारा जारी रिपोर्ट में 43 नये कोरोना पॉजिटिव मरीज मिले हैं, जबकि दो लोगों की मौत की पुष्टि हुई है। इसके साथ ही इंदौर में कोरोना से मरने वालों की संख्या 77 से बढक़र 79 हो गई है। वहीं, कुल संक्रमित मरीजों की संख्या 1611 से बढक़र 1654 हो गई है।इंदौर के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी (सीएमएचओ) डॉ. प्रवीण जडिय़ा ने मंगलवार को बताया कि सोमवार देर रात एमजीएम मेडिकल कॉलेज की लैब द्वारा 483 सेम्पलों की जांच रिपोर्ट जारी की गई, जिसमें 440 सेम्पल निगेटिव आए हैं, जबकि 43 सेम्पल पॉजिटिव प्राप्त हुए हैं। इन नये मामलों को मिलाकर अब इंदौर में कोरोना संक्रमित मरीजों की कुल संख्या 1654 हो गई है। वहीं, सोमवार देर रात आई रिपोर्ट में दो लोगों की मौत की पुष्टि हुई है। मृतकों में 45 वर्षीय एक महिला और 64 वर्षीय पुरुष शामिल है। इसके साथ ही इंदौर में कोरोना से मरने वालों की संख्या 77 से बढक़र 79 हो गई है।सीएमएचओ डॉ. जडिय़ा ने बताया कि अब तक इंदौर में कुल 9857 सेम्पलों की जांच रिपोर्ट प्राप्त हो चुकी है। इनमें से 1654 रिपोर्ट पॉजिटिव आई हैं। इंदौर में अब तक 468 मरीज कोरोना को परास्त कर चुके हैं और उन्हें अस्पतालों से डिस्चार्ज कर दिया गया है। वहीं, अभी विभिन्न अस्पतालों में 1107 मरीजों का उपचार जारी है। 

Dakhal News

Dakhal News 5 May 2020


new delhi, Home Ministry ,becomes tough ,Corona

नई दिल्ली। अर्द्धसैनिक बलों में कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामले को देखते हुए गृह मंत्रालय सख्त हो गया है। मंत्रालय ने स्टैंडर्ट ऑपरेशन प्रोसीजर (एसओपी) का सख्ती से पालन करने के निर्देश दिए हैं। क्योंकि, सीआरपीएफ, बीएसएफ, आईटीबीपी, सीआईएसएफ औऱ एसएसबी में अभी तक कोरेाना संक्रमण के 256 मामले पाए गए हैं। केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) हेडक्वार्टर में इससे पहले एक असिस्टेंड कमांडेंट में कोरोना के लक्षण मिले थे। वहीं सीआरपीएफ का एक ड्राइवर कोरोना पाॅजिटिव पाया गया। सीआरपीएफ में कुल 144 कोरोना पाॅजिटिव मामले मिल चुके हैं। इसके अलावा सीआरपीएफ मुख्यालय में भर्ती विभाग के एक कर्मचारी में लक्षण दिखने के बाद उसको राम मनोहर लोहिया (आरएमएल) अस्पताल में भर्ती कराया गया। सीआरपीएफ ने सावधानी बरतते हुए संपर्क में आए 35 लोगों को क्वारंटीन किया है। फिलहाल सीजीओ कॉम्प्लेक्स में मौजूद सभी मुख्यालयों को पूरी तरीके से हर दिन सैनिटाइज किया जा रहा है।     बार्डर सिक्योरिटी फोर्स (बीएसएफ) हेडक्वॉर्टर में हेड कॉन्स्टेबल कोरोना पॉजिटिव पाया गया। बीएसएफ कॉन्स्टेबल के संपर्क में आए जवानों और अधिकारियों को क्वारंटीन कर दिया गया है। बीएसएफ में अब तक कुल 67 कोरोना पॉजिटिव केस सामने आ चुके हैं। बीएसएफ के जनसंपर्क अधिकारी (पीआरओ) शुभेंदु भारद्वाज के अनुसार, बीएसएफ के 24 कर्मचारी त्रिपुरा में कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं और दिल्ली में 41 जवान संक्रमित हुए हैं। एक जवान कोलकाता में भी संक्रमित हुआ है जो केंद्र सरकार के इंटर मिनिस्ट्रियल टीम को एस्कॉर्ट कर रहा था।      इसके अलावा भारत-तिब्बत सीमा बल (आईटीबीपी) के एक हेड कांस्टेबल की कोरोना से मौत हो चुकी है। अब तक आईटीबीपी में 21 कोरोना पॉज़िटिव केस आ चुके हैं। 40 जवानों की रिपोर्ट जल्द आने की संभावना है। आईटीबीपी के डीजी एस.एस. देसवाल ने बताया कि कोविड -19 से लड़ने के लिए 200 बेड का डेडिकेटेड अस्पताल तैयार किया गया है। ग्रेटर नोएडा स्थित यह अस्पताल सभी आधुनिक सुविधाओं से युक्त है और इसमें ही अर्द्धसैनिक बलों के कोरोना संक्रमित जवानों को रखा जाएगा।

Dakhal News

Dakhal News 5 May 2020


bhopal, 153 people, died corona, 2811 number, infected patients

भोपाल। मध्यप्रदेश में कोरोना के संक्रमित मरीजों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। शनिवार को देर रात इंदौर में एमजीएम मेडिकल कॉलेज द्वारा जारी रिपोर्ट में 23 नये कोरोना पॉजिटिव सामने आए हैं, जबकि दो लोगों की मौत की पुष्टि हुई है। इसके साथ ही प्रदेश में कोरोना से मरने वालों की संख्या 153 पहुंच गई है। वहीं, प्रदेशभर में कोरोना संक्रमित मरीजों की कुल संख्या 2811 हो गई है।इंदौर के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी (सीएमएचओ) डॉ. प्रवीण जडिय़ा ने रविवार को बताया कि शनिवार को देर रात एमजीएम मेडिकल कॉलेज द्वारा 515 सेम्पलों की जांच रिपोर्ट जारी की गई, जिसमें 492 सेम्पल निगेटिव आए हैं, जबकि 23 लोगों के सेम्पल पॉजिटिव प्राप्त हुए हैं। इसके साथ ही इंदौर में कोरोना संक्रमित मरीजों की कुल संख्या 1568 हो गई है। वहीं, शनिवार देर रात आई रिपोर्ट में दो लोगों की मौत की पुष्टि हुई है। मृतकों में एक 55 वर्षीय महिला और एक 59 वर्षीय पुरुष शामिल है। इन दोनों मौतों के साथ इंदौर में कोरोना से मरने वालों की संख्या 74 से बढक़र 76 हो गई है।इंदौर में आए नये पॉजिटिव मरीजों को मिलाकर अब प्रदेश में कोरोना के संक्रमित मरीजों की कुल संख्या 2811 हो गई है। इनमें सबसे अधिक इंदौर में 1568, भोपाल 526, उज्जैन 147, जबलपुर 92, खरगौन 77, रायसेन 57, धार 51, खंडवा 47, होशंगाबाद 35, मंदसौर 35, बड़वानी 26, देवास 26, बुरहानपुर 18, रतलाम 16, मुरैना 16, विदिशा 13, आगरमालवा 12, शाजापुर 07, सागर 05, छिंदवाड़ा 05, ग्वालियर 05, श्योपुर 04,  अलीराजपुर 03, शहडोल 03, हरदा 03,  शिवपुरी 02, टीमकगढ़ 02, रीवा 02, अनूपपुर 02, बैतूल 01, डिंडौरी 01, अशोकनगर 01, कटनी 01 तथा अन्य राज्य के दो मरीज शामिल हैं।वहीं, इंदौर में हुई दो मौतों के बाद प्रदेश में कोरोना से मरने वालों की संख्या 153 हो गई है। मृतकों में सबसे अधिक इंदौर के 76, भोपाल 15, उज्जैन 27, खरगौन 07, देवास 07, धार, 01, जबलपुर 01, खंडवा 06, रायसेन 02,  छिंदवाड़ा 01, मंदसौर 03, होशंगाबाद 04,  अशोकनगर 01, आगर मालवा 01 और शाजापुर का एक व्यक्ति शामिल है।  

Dakhal News

Dakhal News 3 May 2020


new delhi,Air Force ,showers flowers, Army plays bands

नई दिल्ली। कोविड-19 महामारी को मात देने के लिए अपनी और परिवार की परवाह किए बगैर जी-जान से जुटे डॉक्टरों, नर्सों, सफाईकर्मियों, पुलिस, होमगार्ड, डिलिवरी बॉय और मीडिया कर्मियों जैसे प्रथमश्रेणी के कोरोना वारियर्स के प्रति रविवार सुबह तीनों सेनाओं ने अनोखे तरीके से सम्मान जताया। भारतीय वायु सेना के लड़ाकू और परिवहन विमानों ने फ्लाईपास्ट करके उन अस्पतालों के ऊपर फूलों की बारिश की जहां कोरोना के मरीजों का इलाज किया जा रहा है। एयर फोर्स के विमानोंं के श्रीनगर से त्रिवेंद्रम तक और असम के डिब्रूगढ़ से गुजरात के कच्छ तक फ्लाईपास्ट किया, जिसका गवाह पूरा राष्ट्र बना।    भारतीय वायु सेना के विमानों ने आज सुबह 10 बजे से दिल्ली और एनसीआर क्षेत्र में फ्लाईपास्ट करके कोरोना वारियर्स को हवाई सलामी देने का सिलसिला शुरू किया, जो आधे घंटे तक चला। फाइटर जेट सुखोई-30 एमकेआई, मिग-29 और जगुआर सहित लड़ाकू विमानों ने राजपथ पर उड़ान भरी। राजधानी की परिक्रमा करने के दौरान दिल्ली के निवासी अपने घरों की छत से इस नजारे के गवाह बने। इसके अलावा सी-130 परिवहन विमान ने पूरी दिल्ली और राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र को कवर किया। इन विमानों ने विशेष रूप से पक्षियों और एयरोस्पेस सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए 500 मीटर से 1000 मीटर की अनुमानित ऊंचाई पर उड़ान भरी।    वायुसेना के प्रवक्ता इंद्रनील नंदी ने बताया कि आज सुबह दिल्ली में बारिश होने से कोरोना योद्धाओं के प्रति सम्मान जताने के कार्यक्रम में थोड़ा व्यवधान हुआ लेकिन भारतीय वायुसेना के चॉपर ने सुबह नौ बजे इंडिया गेट पर पुलिस वार मेमोरियल पर फूलों की पंखुड़ियां गिराकर शहीदों के प्रति सम्मान व्यक्त किया। भारतीय वायुसेना ने मेडिकल प्रोफेशनल्स और फ्रंटलाइन वर्कर्स के कोरोना महामारी के खिलाफ सराहनीय काम के प्रति आभार प्रकट करने के लिए राजपथ के ऊपर से फ्लाईपास्ट किया। इसके बाद दिल्ली के अस्पतालों दीनदयाल उपाध्याय अस्पताल, जीटीबी अस्पताल, लोकनायक अस्पताल, राम मनोहर लोहिया अस्पताल, सफदरजंग अस्पताल, गंगा राम अस्पताल, बाबा साहेब अंबेडकर अस्पताल, मैक्स साकेत, रोहिणी अस्पताल, अपोलो इंद्रप्रस्थ अस्पताल और कैंट स्थित थलसेना के रेफरल अस्पताल के ऊपर फूलों की बारिश कर डॉक्टरों और कोरोना वारियर्स के प्रति आभार जताया गया। साथ ही उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में एयरफोर्स के हेलीकॉप्टर ने कमांड हॉस्पिटल और केजीएमयू हॉस्पिटल पर फूल बरसाए। चंडीगढ़ में भारतीय वायुसेना के विमान सी-130 ने सुखना झील के ऊपर से फ्लाई पास्ट किया। श्रीनगर में डल झील के ऊपर भारतीय वायुसेना ने फ्लाई पास्ट किया। मुंबई में मरीन ड्राइव से वायुसेना के विमान ने फ्लाई पास्ट करके 'कोरोना योद्धाओं' के प्रति आभार प्रकट किया। बेंगलुरु में भारतीय वायुसेना ने इस मुश्किल वक़्त में लोगों को अपनी सेवाएं दे रहे 'कोरोना यो​द्धाओं' के प्रति आभार प्रकट करने के लिए विक्टोरिया अस्पताल में स्वास्थ्यकर्मियों पर फूल बरसाए।   भारतीय सेना के प्रवक्ता कर्नल अमन आनंद ने बताया कि सेना के जवानों ने सुबह 10 बजे दिल्ली एम्स में, 10.30 बजे कैंट बोर्ड हॉस्पिटल, नरेला के बेस अस्पताल में और सुबह 11 बजे गंगाराम अस्पताल और सेना के आर एंड आर हॉस्पिटल के बाहर आर्मी बैंड ने परफॉर्म किया। इसके अलावा देश के कई जिलों के कोरोना अस्पतालों में माउंटेन बैंड डिस्प्ले करकेे पुलिसबलों के समर्थन में पुलिस मेमोरियल पर श्रद्धा सुमन अर्पित किए। सशस्त्र बलों ने पुलिस बलों के समर्थन में जिलों के पुलिस स्मारक पर शंखनाद करके उनके प्रति सम्मान व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि कोविड-19 के चलते कोई अभियान कार्य प्रभावित नहीं हुआ है, न प्रभावित होगा। इसके अलावा कोलकाता में शाम को आर्मी बैंड विक्टोरिया मेमोरियल में परफॉर्मेंस देंगे। गुजरात के गांधीनगर में आर्मी बैंड ने परफॉर्म करके कोरोना वारियर्स को धन्यवाद दिया। कोरोना वॉरियर्स के प्रति सम्मान और आभार व्यक्त करने के लिए पंचकूला सेक्टर-6 के सरकारी अस्पताल के बाहर आर्मी बैंड ने लयबद्ध होकर प्रस्तुति दी।    नौसेना के प्रवक्ता विवेक मधवाल ने बताया कि नौसेना के जवान समंदर पर तैनात रहे और लाइट जलाकर कोरोना वॉरियर्स के प्रति सम्मान प्रकट किया। इंडियन नेवी के हेलीकॉप्टरों ने सुबह दस से साढ़े दस बजे के बीच मुंबई में कस्तूरबा गांधी अस्पताल और आईएनएचएस अश्वनी पर, गोवा में भारतीय नौसेना ने 'कोरोना योद्धाओं' के प्रति आभार जताने के लिए गोवा मेडिकल कॉलेज और ईएसआई हॉस्पिटल के ऊपर से फ्लाई पास्ट किया और स्वास्थ्यकर्मियों पर फूल बरसाए। मुंबई में गेट वे ऑफ इंडिया के पास नेवी के पांच शिप रोशनी से जगमगाए। वह शाम 7.30 बजे शिप का सायरन बजाकर कोरोना वारियर्स के प्रति सम्मान व्यक्त करेंगे। इसके अलावा सुबह नेवी के हेलीकॉप्टर ने कोविड अस्पताल पर फूलों की बारिश की। नेवी के दो जहाज शाम 7:30 बजे से रोशन किए जाएंगे जो आधी रात तक जगमगाएंगे। दोनों जहाजों से वारियर्स को सलामी देने के लिए चेन्नई में मरीना बीच पर लंगर डाला गया। वेस्टर्न कमांड ने कोरोना के खिलाफ लड़ाई में अग्रिम पंक्ति के कार्यकर्ताओं के प्रयासों का सम्मान करने के लिए भारतीय नौसेना ने पूर्व संध्या पर शनिवार को मुंबई तट पर पूर्वाभ्यास किया। त्रिवेंद्रम सहित पूरी कोस्टल लाइन पर कोस्टगार्ड अपने शिप को शाम को रोशनी से जगमगाएंगे।   चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत ने भी सभी कोरोना वॉरियर्स का शुक्रिया अदा करते हुए कहा कि डॉक्टर, नर्स, सफाईकर्मी, पुलिस, होमगार्ड, डिलिवरी बॉय और मीडिया कर्मी इस कोरोना संकट के समय सरकार का यह संदेश जनता तक पहुंचा रहे हैं कि मुश्किल वक्त में भी जिंदगी को कैसे जारी रखना है। सशस्त्र बल इस वक्त देश के साथ मजबूती के साथ खड़े हैं। हम हर कोरोना वॉरियर के साथ हैं। हम यह लड़ाई जीतेंगे तो यह देश के हर नागरिक के अनुशासन और सब्र का नतीजा होगी।    सेना प्रमुख जनरल मनोज मुकुंद नरवणे ने कहा कि कोरोना वायरस के मुद्दे से निपटने में कोई समस्या नहीं है। सेना का पहला मरीज ठीक हो गया है और वह वापस ड्यूटी पर भी आ गया है। सेना में अब तक केवल 14 मामले आए हैं जिनमें से पांच ठीक होकर काम पर लौट आए हैं।   एयरफोर्स चीफ आरकेएस भदौरिया ने कहा कि कोरोना वायरस को लेकर हम सभी सावधानियां बरत रहे हैं। एयरफोर्स में अब तक कोरोना का कोई केस नहीं आया है लेकिन हम लगातार सावधानियां बरतेंगे। 

Dakhal News

Dakhal News 3 May 2020


j&k, kupwada, Five security personnel, including Colonel Major, martyred , Handwara encounter

कुपवाड़ा। कुपवाड़ा जिले के हंदवाड़ा में आतंकियों तथा सुरक्षाबलों के बीच जारी मुठभेड़ में कर्नल-मेजर, सेना के दो जवान और पुलिस का एक जवान शहीद हो गए हैं। मुठभेड में सुरक्षाबलों ने अब तक दो आतंकियों को मार गिराया है। शुक्रवार देर रात से जारी इस मुठभेड़ में सुरक्षाबलों ने जब हंदवाड़ा के छंजमुला इलाके में एक रिहायशी मकान में छिपे दो आतंकियों को मार गिराया तो आतंकियों की तरफ से गोलीबारी बंद हो गई। करीब एक घंटे तक जब कोई गोली नहीं चली तो 21 राष्ट्रीय रायफल्स के कर्नल आशुतोष शर्मा, मेजर अनुज सूद, नायक राजेश और लांस नायक दिनेश तथा एक पुलिस अधिकारी मकान के भीतर दाखिल हुए जिसके थोड़ी ही देर बाद सुरक्षाबलों का उनसे संपर्क टूटा गया। वहीं रविवार सुबह इन सभी के शहीद होने की पुष्टि सेना द्वारा की गई।  हंदावाड़ा में आतंकियों तथा सुरक्षाबलों के बीच मुठभेड़ फिलहाल जारी है। इस दौरान आतंकियों द्वारा उस मकान में बंदी बनाए गए लोगों को बचाने का भी सुरक्षाबलों द्वारा प्रयास किया जा रहा है। इस मुठभेड़ की जिम्मेदारी द रजिस्टेंस फ्रंट (टीआरएफ) ने ली है। बता दें कि कर्नल आशुतोष को कश्मीर में बहादुरी के लिए दो बार वीरता पदक मिल चुका था। कश्मीर में जांबाजी दिखाने वाले श्रेष्ठ कमांडिंग ऑफिसर्स में उनकी गिनती होती थी ।

Dakhal News

Dakhal News 3 May 2020


bhopal,22 ministers ,will take oath,f extension , Shivraj cabinet soon

भोपाल। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान जल्द ही अपनी कैबिनेट का विस्तार कर सकते है। सूत्रों के मुताबिक इसी सप्ताह में सीएम शिवराज मंत्रिमंडल का विस्तार कर सकते हैं। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की शुक्रवार को राज्यपाल लालजी टंडन के साथ मुलाकात के बाद मंत्रिमंडल विस्तार की चर्चाएं तेज हो गई है और इस बात के कयास लगाए जा रहे हैं कि इसी सिलसिले में दोनों की मुलाकात हुई है।    आपको बता दें कि मध्य प्रदेश में कांग्रेस की सरकार गिरने के बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने 23 मार्च को पद ग्रहण कर लिया था। इसके बाद कई दिनों तक उन्होंने अकेले ही प्रदेश को संभाला। लेकिन कोरोना के बाद प्रदेश में बनी स्थिति को देखते हुए सीएम बनने के 29 दिन बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने 5 मंत्रियों के साथ मिनी मंत्रिमंडल का गठन किया था। लेकिन अब सूत्रों के हवाले से खबर मिल रही है कि सीएम शिवराज अपने मंत्रिमंडल का जल्द विस्तार करने जा रहे है। मंत्रिमंडल विस्तार को लेकर सीएम और राज्यपाल लालजी टंडन के बीच चर्चा हुई है।    बताया जा रहा है कि इसी सप्ताह 4 से 6 मई तक मध्य प्रदेश में मंत्रिमंडल का विस्तार हो सकता है। इस बार 22 चेहरे मंत्री पद की शपथ ले सकते हैं। इससे पहले शिवराज मंत्रिमंडल में नरोत्तम मिश्रा, कमल पटेल, मीना सिंह और सिंधिया समर्थक तुलसीराम सिलावट और गोविंद सिंह राजपूत शामिल है। 

Dakhal News

Dakhal News 1 May 2020


bhopal, Home Minister ,Narottam Mishra,inaugurated Corona e Consultation Service

भोपाल। भोपाल के वल्लभ भवन मंत्रालय में गृह एवं स्वास्थ्य मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने शुक्रवार को "कोरोना ई परामर्श" सेवा की शुरुआत की। जिसमें देश के 5000 डॉक्टर मध्यप्रदेश के सभी लोगों की कोरोना से संबंधित आशंकाओं का सिर्फ 104 फोन मिलाने पर परामर्श देंगे।   "कोरोना ई परामर्श" सेवा की जानकारी देते हुए मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने बताया कि एक महत्वपूर्ण कार्यक्रम की आज शुरूआज हुई। मप्र की सरकार ने आमजन के लिए बहुजन हिताय बहुजन सुखाय के मंत्र को ध्यान में रखते हुए कोरोना की परामर्श सेवा प्रारंभ की है। इसमें हिंदुस्तान भर के पांच हजार डॉक्टर आपकों 104 नंबर पर कोरोना से संबंधित शंकाओं पर नि:शुल्क परापर्श देंगे। उन्होंने कहा कि कोरोना से संबंधित कोई भी विषय, चाहे वह रोग से या आशंकाओं से संबंधित हो यह पांच हजार डॉक्टर जो आपकों 104 पर नि:शुल्क सेवा देंगे। मंत्री मिश्रा ने बताया कि "कोरोना ई परामर्श" सेवा का लाभ प्रोजेक्ट स्टेप वन प्रोग्राम है यह और यही पहला स्टेप होगा कि आप अपनी जानकारी आप अपनी आशंका चिंता संबंधित डॉक्टर को बताकर मार्गदर्शन लेकर आप स्वस्थ रहे निरोगी रहे यही प्रदेश सरकार की मंशा है    इसके अलावा इस मौके पर मंत्रालय में गृह एवं स्वास्थ्य मंत्री नरोत्तम मिश्रा  ने कोविड -19 को लेकर जनप्रतिनिधियों के साथ बैठक भी की। जिसमें भाजपा और कांग्रेस के विधायक शामिल हुए। बैठक में भाजपा विधायक रामेश्वर शर्मा, विश्वास सारंग, विष्णु खत्री, कृष्णा गौर,  कांग्रेस विधायक आरिफ अकील, पीसी शर्मा और आरिफ मसूद प्रमुख रूप से उपस्थित है। जनप्रतिनिधियों के सुझाव के साथ  अधिकारियों में भोपाल कमिश्नर कल्पना श्रीवास्तव, कलेक्टर तरुण पिथोड़े और डीआईजी इरशाद वली भी मौजूद है।  

Dakhal News

Dakhal News 1 May 2020


bhopal, Kamal Nath ,completes two years ,Congress state president

भोपाल। पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ को कांग्रेेस प्रदेश अध्यक्ष का पद संभाले दो साल पूरे हो गए हैं। उनके नेतृत्व में ही कांग्रेस को 15 साल बाद सत्ता का सुख प्राप्त हुआ था, लेकिन अंदरुनी कलह और बगावत के चलते ज्यादा दिनों तक प्रदेश में कांग्रेस की सरकार टिक नहीं पाई। ऐसे में कांग्रेस को उपचुनाव के बाद एक बार फिर प्रदेश की सत्ता पाने की उम्मीद है।    प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ के मीडिया समन्वयक नरेन्द्र सलूजा ने शुक्रवार को उनके दो वर्ष पूरे होने पर उनके नेतृत्व क्षमता की तारीफ करते हुए पुन: सरकार बनाने की आशा जताई है। सलूजा ने एक बयान जारी कर कहा है कि आज से दो वर्ष पूर्व 1 मई के दिन ही कमलनाथ ने प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष की बागडोर सम्भालीं थी। उनके नेतृत्व में प्रदेश में कांग्रेस का 15 वर्ष का वनवास ख़त्म हुआ था, प्रदेश में कांग्रेस सत्ता में लौटी थी। इन दो वर्षों में कमलनाथ ने प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष के रूप में प्रदेश में कांग्रेस संगठन को मज़बूत किया, उनके नेतृत्व में प्रदेश में कांग्रेस की सरकार ने 15 माह में कई जनहितैषी कार्य किये। जिसमें किसान कर्ज़़ माफ़ी, युवाओं को रोजगार, महिलाओं को सुरक्षा-सम्मान, किसानों व आमजन को सस्ती बिजली, माफिया मुक्त-मिलावट मुक्त अभियान, प्रदेश में निवेश, पिछड़े वर्ग को 27प्रतिशत आरक्षण, हर वर्ग का उत्थान जैसे कई जनहितैषी कार्य किये।   सलूजा ने भाजपा पर आरोप लगाते हुए कहा कि भाजपा ने साजिश-षड्यंत्र रच, प्रलोभन का खेल रच एक जन हितैषी सरकार को गिरा दिया लेकिन भाजपा की यह साजि़श ज़्यादा दिन तक नहीं चलेगी, कांग्रेस फिर दोबारा से सत्ता में लौटेगी। प्रदेश में होने वाले उपचुनावों में कांग्रेस की विजय होगी, धोखेबाज़ों को व जनता के विश्वास का सौदा करने वालों को जनता सबक़ सिखायेगी। सलूजा ने उम्मीद व्यक्त करते हुए कहा कि कमलनाथ के नेतृत्व में प्रदेश में कांग्रेस सरकार दोबारा वापस आकर प्रदेश हित व जन हित के अधूरे कार्यों को पूरा करेगी। हम सभी कमलनाथ का कुशल नेतृत्व पाकर गौरान्वित है।  

Dakhal News

Dakhal News 1 May 2020


bhopal, Agriculture Minister ,agrees to demand, Scindia ,report,agreed districts

भोपाल। पूर्व केन्द्रीय मंत्री और भाजपा के वरिष्ठ नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया ने प्रदेश के कृषि मंत्री कमल पटेल को राज्य में चना और सरसों की खरीद बढ़ाने का सुझाब दिया था। कृषि मंत्री पटेल ने सिंधिया के सुझावों पर सहमति जताई है। उन्होंने सोमवार को सभी जिलों के कलेक्टरों से चना और सरसों के उत्पादन को लेकर रिपोर्ट मंगाई है। जल्द ही कृषि मंत्री प्रदेश में चना और सरसों की खरीद बढ़ाने के संबंध में आदेश जारी कर सकते हैं।बता दें कि ज्योतिरादित्य सिंधिया ने रविवार को कृषि मंत्री कमल पटेल को पत्र लिखकर कहा था कि प्रदेश में इस बार चना और सरसों की बंपर पैदावार हुई है। प्रदेश में अभी चना और सरसों की निर्धारित खरीद मात्रा क्रमश: 14 और 15 है। मेरा सुझाव है कि कोरोना संकट की इस घड़ी में प्रदेश के किसानों की चने और सरसों की फसल की सरकार द्वारा खरीद सीमा 20 क्विंटल तक वृद्धि की जाए तो संकट से जूझ रहे किसान को बहुत सहयोग और सहायता मिल जाएगी। मुझे आशा है कि प्रदेश के अन्नदाता के हित में शीघ्र ही आपका विभाग इस विषय में सकारात्मक एवं सशक्त कदम उठाएगा।कृषि मंत्री कमल पटेल ने सिंधिया के सुझाव पर अमल शुरू कर दिया है। उन्होंने सोमवार को सभी जिला कलेक्टरों को निर्देश दिये हैं कि वे अपने यहां चना और सरसों के उत्पादन से जुड़ी रिपोर्ट बनाकर विभाग को भेजे, ताकि इसकी खरीद सीमा बढ़ाई जा सके। कृषि मंत्री ने कहा है कि ने प्रदेश में चना का रकबा भले ही इस बार घटा हो, लेकिन उत्पादन में वृद्धि होने पर इनकी खरीद सीमा में वृद्धि की जाएगी। माना जा रहा है कि सरकार जल्द ही चना और सरसों की खरीदी के लिए फिर से नए आदेश जारी कर सकती है।

Dakhal News

Dakhal News 27 April 2020


bhopal, Corona infected patients ,number 2121, 106 deaths , Madhya Pradesh

भोपाल। मध्यप्रदेश में शासन-प्रशासन के तमाम प्रयासों के बावजूद कोरोना का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा है। प्रदेश की आर्थिक राजधानी इंदौर में एमजीएम मेडिकल कॉलेज द्वारा रविवार को देर रात जारी रिपोर्ट में 31 नये कोरोना पॉजिटिव सामने आए हैं, जबकि तीन लोगों की कोरोना से मौत की पुष्टि हुई है। इन्हें मिलाकर अब प्रदेश में कोरोना संक्रमित मरीजों की कुल संख्या 2121 पर पहुंच गई है, जबकि इस महामारी से अब तक प्रदेश में 106 लोगों की मौत हो चुकी है।इंदौर के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी (सीएमएचओ) डॉ. प्रवीण जडिय़ा ने सोमवार को बताया कि एमजीएम मेडिकल कॉलेज द्वारा रविवार को देर रात 298 सेंम्पल की जांच रिपोर्ट जारी की गई, जिनमें से 31 कोरोना पॉजिटिव आए हैं। इसके साथ ही इंदौर में कोरोना संक्रमित मरीजों की कुल संख्या 1207 हो गई है। वहीं, रिपोर्ट में तीन लोगों की मौत की पुष्टि भी हुई है और इन मौतों के साथ इंदौर में कोरोना से मरने वालों की संख्या 60 पर पहुंच गई है।इंदौर में सामने आए इन नये मामलों को मिलाकर प्रदेश में अब कुल कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 2121 हो गई है। इनमें सबसे अधिक इंदौर में 1207, भोपाल 415, उज्जैन 106, खरगौन 61, धार 36, खंडवा 36, जबलपुर 59, रायसेन 28, होशंगाबाद 32, बड़वानी 24, देवास 23, मुरैना 13, विदिशा 13, रतलाम 13, मंदसौर 09, आगरमालवा 11, शाजापुर 06, सागर 05, ग्वालियर 04, श्योपुर 04, छिंदवाड़ा 05, अलीराजपुर 03, शिवपुरी 02, टीमकगढ़ 02, बैतूल 01, डिंडौरी 01 तथा अन्य राज्य के दो मरीज शामिल हैं।प्रदेश में कोरोना से मरने वालों की संख्या 106 हो गई है। मृतकों में सबसे अधिक इंदौर के 60, भोपाल 09, उज्जैन 17, खरगौन 06, देवास 06, धार, 01, खंडवा 01, जबलपुर 01, छिंदवाड़ा 01, मंदसौर 01, होशंगाबाद 02 और आगर मालवा का एक व्यक्ति शामिल है।  

Dakhal News

Dakhal News 27 April 2020


new delhi, Prime Minister ,discussed, Chief Ministers ,regarding Corona

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने देश में कोरोना वायरस को लेकर  एक बार फिर से मुख्यमंत्रियों से चर्चा की। सोमवार को वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए हुई इस बैठक में प्रधानमंत्री ने कहा कि सभी के सामूहिक प्रयासों के अलावा लॉकडाउन का जो प्रभाव पड़ा है उसका लाभ देखने को मिल रहा है। बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि हजारों जिंदगियां बचाने के लिए यह प्रयास महत्वपूर्ण हैं।  पहले लॉकडाउन में सख्ती और दूसरी में कुछ ढील देने से अनुभव प्राप्त हुआ। इस दौरान राज्यों में अच्छा काम हुआ है। लगातार एक्सपर्ट्स के सुझाव मिल रहे हैं। अब मनरेगा समेत कई उद्योग का काम भी शुरू हो गया है।  प्रधानमंत्री के साथ सोमवार को लगभग तीन घंटे चली वीडियो कांफ्रेंसिंग के दौरान  राज्यों औऱ केंद्र शासित प्रदेशों में कोरोना संक्रमण की स्थिति और कंटेनमेंट जोन के लिए उठाए गए कदमों की चर्चा की। समय की कमी की वजह से सिर्फ नौ मुख्यमंत्रियों ने प्रधानमंत्री से बात की। वीडियो कांफ्रेंसिंग के दौरान गृहमंत्री अमित शाह और स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन के अलावा प्रधानमंत्री कार्यालय के कई वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे। बैठक में मेघालय, मिजोरम, पुड्डुचेरी, उत्तराखंड, ओडिशा, बिहार, गुजरात और हरियाणा आदि मुख्यमंत्रियों को बोलने का मौका मिला। वहीं अन्य मुख्यमंत्रियों से अपने सुझाव लिखित में देने के लिए कहा गया। लगभग दर्जन भर से ज्यादा मुख्यमंत्रियों ने लॉकडाउन की अविध को बढ़ाने का सुझाव दिया। बैठक में मेघालय के मुख्यमंत्री संगमा ने कहा कि तीन मई के बाद भी राज्य लॉकडाउन को जारी रखना चाहता है। इसके तहत अंतर-राज्यीय और अंतर-जिला गतिविधियों पर प्रतिबंध जारी रहेगा।  बैठक के दौरान मिजोरम के मुख्यमंत्री ने कहा कि केंद्र सरकार जो भी फैसला लेगी उसे राज्य स्वीकार करेगा। पुड्डुचेरी के मुख्यमंत्री वी.नारायणसामी ने राज्य के कोरोना योद्धाओं के लिए व्यक्तिगत सुरक्षा उपकरण और अन्य चिकित्सा सामग्री प्रदान करने के बात केंद्र से कही। उन्होंने 3 मई को लॉकडाउन खत्म होने पर उद्योगों को शुरू करने की इच्छा जाहिर की और कोरोना-19 से लड़ने के लिए भारत सरकार से वित्तीय सहायता की मांग की। वहीं उत्तराखंड के मुख्यमंत्री ने त्रिवेंद्र रावत ने बताया कि राज्य के आर्थिक पुनरुद्धार के लिए मंत्रियों की एक समिति और विशेषज्ञों की एक समिति का गठन किया गया है। मुख्यमंत्री ने यह सुझाव दिया कि मनरेगा मजदूरी रोजगार की अवधि वर्तमान 100 दिनों से बढ़ाकर 150 दिन कर दी जाए। उन्होंने यह भी कहा कि पर्यटन और तीर्थयात्री लॉकडाउन से बहुत प्रभावित हुए हैं।  इनके अलावा बैठक में शामिल होने वाले मुख्यमंत्रियों में अरविंद केजरीवाल (दिल्ली), पिनराई विजयन (केरल), उद्धव ठाकरे (महाराष्ट्र), ई.के पलानीस्वामी (तमिलनाडु), बी.एस.येदियुरप्पा (कर्नाटक) व आदित्यनाथ (उत्तर प्रदेश),  मनोहर लाल खट्टर (हरियाणा), अशोक गहलात (राजस्थान), ममता बनर्जी (पश्चिम बंगाल), के. चंद्रशेखर राव (तेलंगाना), जयराम ठाकुर (हिमाचल प्रदेश) विजय रुपाणी (गुजरात) , शिवराज सिंह (मध्य प्रदेश) आदि शामिल थे। बैठक में प्रधानमंत्री सफेद औऱ हरे रंग के बार्डर वाले गमछे से अपना मुंह ढंके हुए दिखाई दिए।  बताया जा रहा है कि मुख्यमंत्रियों के साथ इस वीडियो कांफ्रेंसिंग के बाद लॉकडाउन को खोलने की योजना को लेकर समीक्षा की गई कि चरणबद्ध तरीके से कैसे लागू किया जाए? बताया यह भी जा रहा है कि प्रधानमंत्री ने राज्यों को अपने-अपने राज्यों में लॉकडाउन को खोलने की योजना तैयार करने को कहा है। गौरतलब है कि प्रधानमंत्री मोदी ने 24 मार्च को कोरोना-19 के प्रसार को रोकने के लिए एहतियात के तौर पर 21 दिन के लॉकडाउन का ऐलान किया था। बाद में उसे 3 मई तक बढ़ा दिया गया था। लॉकडाउन की घोषणा से पहले वायरस के प्रसार की जांच करने के साधनों पर चर्चा करने के लिए प्रधानमंत्री ने 20 मार्च को मुख्यमंत्रियों के साथ बातचीत की थी।

Dakhal News

Dakhal News 27 April 2020


pulwama, Three terrorists ,continue firing , encounter

पुलवामा। पुलवामा जिले के अवंतीपोरा के गोरीपोरा गांव में शनिवार सुबह से जारी एक मुठभेड़ में सुरक्षाबलों ने अब तक तीन आतंकियों को मार गिराया है। दोनों ओर से गोलीबारी अब भी जारी है। मारे गए आतंकियों की फिलहाल पहचान नहीं हो पाई है। सूत्रों के अनुसार मारे गए तीनों आतंकी स्थानीय हैं। सुरक्षाबलों ने इलाके की घेराबंदी कर गांव में आने व जाने वाले सभी रास्तों को सील कर दिया है।   जानकारी के अनुसार शनिवार सुबह जिले के अवंतीपोरा के गोरीपोरा गांव में आतंकियों की मौजूदगी की गुप्त सूचना प्राप्त हुई। सूचना प्राप्त होते सेना की 50 आरआर, सीआरपीएफ तथा एसओजी की एक संयुक्त टीम ने इलाके की घेराबंदी कर तलाशी अभियान शुरू किया। तलाशी अभियान के दौरान क्षेत्र में छिपे आतंकियों ने सुरक्षाबलों को पास आते देख गोलीबारी शुरू कर दी, जिसके बाद मुठभेड़ शुरू हो गई। इस मुठभेड़ में सुरक्षाबलों ने अभी तक तीन आतंकियों को मार गिराया है। फिलहाल दोनों ओर से गोलीबारी जारी है। उल्लेखनीय है कि शुक्रवार देर रात अनंतनाग जिले के खारपोरा अरवानी इलाके में हुई एक मुठभेड़ में सुरक्षाबलों ने दो आतंकियों को मार गिराया था। ये आतंकी पुलिसकर्मी का अपहरण कर उसे अपने साथ ले जा रहे थे। इस मुठभेड़ में पुलिसकर्मी भी घायल हो गया था, जिसे आतंकियों के चंगुल से सुरक्षाबलों द्वारा बचा लिया गया था।

Dakhal News

Dakhal News 25 April 2020


bhopal, Congress prepared , by-election, Kamal Nath ,formed core team

भोपाल। दिग्गज नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया  के भाजपा में शामिल होने के बाद सिंधिया समर्थक 22 विधायकों की बगावत ने मप्र में कांग्रेस की सरकार को गिरा दिया था। 22 बागी विधायकों के इस्तीफे के बाद अब उन सभी सीटों पर उपचुनाव होने है। इसके अलावा दो सीटें विधायकों के निधन की वजह से खाली थी वहां पर भी उपचुनाव होने है। कुल मिलाकर 24 विधानसभा सीटों पर उपचुनावों की तैयारियां शुरू हो चुकी है। सत्ता गंवाने के बाद कांग्रेस अब एक बार फिर उसे हासिल करने के लिए उपचुनाव में अधिक सीटें जीतने कोशिश रही है। जिसके लिए पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने भी तैयारी शुरू कर दी है।    मप्र में 24 सीटों पर होने वाले उपचुनावों के लिए कमलनाथ ने एक कोर टीम गठित की है। ये टीम उप चुनाव को किस प्रकार लड़ा जाए इसके लिए रणनीति तैयार करेगी। कमलनाथ की कोर टीम में पूर्व विधानसभा अध्यक्ष एन पी प्रजापति, पूर्व मंत्री और प्रदेश मीडिया प्रभारी जीतू पटवारी, स’जन सिंह, सुखदेव पांसे, सुरेंद्र सिंह बघेल और सुरेश पचौरी को जगह दी गई हैं। कांग्रेस की यह कोर टीम शिवराज सरकार की विफलताओं को जनता के बीच लेकर जाएगी।  कांग्रेस ने कोरोना के बढ़ते संक्रमण और बढ़ते जुर्म को भी मुद्दा बनाने का निर्णय किया है। आपको बता दें कि इन सीटों में से 16 सीटें ग्वालियर-चंबल इलाके से आती हैं और इस क्षेत्र में सिंधिया का बड़ा प्रभाव देखने मिलता है जबकि 5 सीटें मालवा-निमाड़ और एक एक सीट, शहडोल, भोपाल और सागर संभाग से हैं। 

Dakhal News

Dakhal News 25 April 2020


indore, bhopal,  Corona positive patients, reached ,94 people e died , 1900

इंदौर/भोपाल। मध्यप्रदेश में शासन-प्रशासन के तमाम प्रयासों के बावजूद कोरोना वायरस का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा है। इंदौर, भोपाल, खरगौन और उज्जैन में लगातार नये मरीज मिलने से प्रदेश में संक्रमितों का आंकड़ा तेजी से बढ़ रहा है। इंदौर में एमजीएम मेडिकल कॉलेज द्वारा शुक्रवार देररात जारी रिपोर्ट में 65 नये कोरोना पॉजिटिव मरीज मिले हैं, जबकि दो लोगों की मौत की पुष्टि हुई है। इसके साथ प्रदेश में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 1900 के पार पहुंच गई है, जबकि 94 लोगों की इस महामारी के चलते मौत चुकी है।   इंदौर के सीएमएचओ डॉ प्रवीण जड़िया ने बताया कि महात्मा गांधी स्मृति चिकित्सा महाविद्यालय में स्थित वायरोलॉजी प्रयोगशाला द्वारा शुक्रवार देर रात 311 सेम्पलों की जांच रिपोर्ट जारी की है। इनमें 255 की रिपोर्ट निगेटिव आई हैं, जबकि 56 पॉजिटिव हैं। नये मामलों के साथ इंदौर में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 1029 से बढ़कर 1085 हो गई है। वहीं, दो मृतकों की रिपोर्ट भी पॉजिटिव आई हैं। इनमें एक 55 वर्षीय पुरुष और एक 75 वर्षीय वृद्ध की शुक्रवार को मौत हो गई थी और उनके सेम्पल जांच के लिए भेजे गए थे। इन दो मौतों के बाद इंदौर में कोरोना से मरने वालों की संख्या 57 हो गई है। इंदौर में सामने आए नये मामलों को मिलाकर अब मध्यप्रदेश में कोरोना संक्रमित मरीजों की कुल संख्या 1902 पर पहुंच गई है। इनमें सबसे अधिक इंदौर में 1085, भोपाल 360, उज्जैन 102, खरगौन 61, धार 36, खंडवा 35, जबलपुर 31, रायसेन 26, होशंगाबाद 26, बड़वानी 24, देवास 22, मुरैना 16, विदिशा 13, रतलाम 12, मंदसौर 08, आगरमालवा 11, शाजापुर 06, सागर 05, ग्वालियर 04, श्योपुर 04,  छिंदवाड़ा 04, अलीराजपुर 03, शिवपुरी 02, टीमकगढ़ 02, बैतूल 01, टीमकगढ़ 01 तथा अन्य राज्य के तीन मरीज शामिल हैं। वहीं, कोरोना से अब तक प्रदेश में 94 लोगों की मौत हो चुकी है। मृतकों में इंदौर के 57, भोपाल 09, उज्जैन 11, खरगौन 06, देवास 06, धार, 01, जबलपुर 01, छिंदवाड़ा 01, मंदसौर 01 और आगर मालवा का एक व्यक्ति शामिल है। 

Dakhal News

Dakhal News 25 April 2020


bhopal, ADG revealed ,corona spread ,policemen

भोपाल। मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में कोरोना का संक्रमण तेजी से फैल रहा है। इनमें अधिकांश कोरोना पॉजिटिव स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी-कर्मचारी और पुलिसकर्मी शामिल हैं। इस मामले में भोपाल जोन के एडीजी उपेन्द्र जैन ने बड़ा खुलासा किया है। उन्होंने गुरुवार को मीडिया को जारी अपने बयान में कहा है कि भोपाल में जमातियों के कारण पुलिसकर्मियों में कोरोना का संक्रमण पैला है। दिल्ली मरकज से आए जमातियों को पकडऩे में कुछ पुलिसकर्मी कोरोना से संक्रमित हुए और फिर इसकी पुलिस विभाग में एक चेन बन गई। उन्होंने बताया कि भोपाल के ऐशबाग और जहांगीराबाद क्षेत्र से पुलिस कर्मियों में कोरोना का संक्रमण फैलना शुरू हुआ। इन क्षेत्रों में पहले संक्रमण नहीं था, लेकिन दिल्ली मरकज से आए जमातियों की वजह से यह क्षेत्र संक्रमित हो गए।    जमातियों को पकड़ पुलिसकर्मी थाने लाए और वे साथी पुलिसकर्मियों, अन्य स्टाफ, अपने घर, परिजनों से मिले और उनमें भी कोरोना की एक लम्बी चेन बन गई। पुलिस विभाग द्वारा समीक्षा करने पर पता चला है कि विभाग में जमातियों के कारण कोरोना फैला है। उन्होंने बताया कि शहर में 32 विदेशी और देशी जमातों की पड़ताल की गई थी और यह भोपाल के आठ थाना क्षेत्रों में पाए गए थे।

Dakhal News

Dakhal News 23 April 2020


bhopal, Shivraj ,n touch with people , Facebook live today, lockdown may increase, some districts

भोपाल। मध्यप्रदेश में कोरोना वायरस का संक्रमण तेजी से फैल रहा है। यहां कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही है। अब तक प्रदेश में कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या 1690 के पार पहुंच गई है जबकि इस महामारी से 80 लोगों की मौत हो गई है। इसी को देखते हुए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रदेश में लॉकडाउन बढ़ाने का संकेत दिया है। उन्होंने गुरुवार को मीडिया को जारी बयान में कहा है कि वे आज (गुरुवार) शाम  को फेसबुक लाइव के जरिए प्रदेशवासियों से बातचीत करेंगे।  मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि इंदौर, भोपाल, उज्जैन, खरगोन जिलों में लगातार कोरोना के मरीजों की संख्या बढ़ रही है। इसीलिए इन शहरों में लॉकडाउन की अवधि बढ़ाई जा सकती है। हमारी पहली प्राथमिकता यही है कि हम कोरोना को परास्त करें, इसीलिए हमें सभी चीजों को देखना होगा। जहां कोरोना का संक्रमण नहीं है, वहां गतिविधियां आरंभ कर दी जाएंगी। आधामध्य प्रदेश कोरोना संक्रमण से मुक्त है और जहां कोरोना का संक्रमण है, वहां प्रशासन उसकी रोकथाम में जुटा हुआ है। कोरोना संक्रमण को लेकर आज फेसबुक लाइव के माध्यम से मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान जनता से रूबरू होंगे और प्रदेश की स्थिति का जायजा लेंगे।

Dakhal News

Dakhal News 23 April 2020


Damoh, after raping, seven-year-old girl,  thrown jungle, shattered in a sack

दमोह। मध्यप्रदेश में दमोह जिले के जबेरा थाना क्षेत्र अंतर्गत ग्राम बंशीपुर में गुरुवार सुबह एक सात वर्षीय मासूम बच्ची का अपहरण कर उसके साथ दुष्कर्म की वारदात सामने आई है। बताया जा रहा है कि आरोपित ने उसकी एक आंख फोडक़र बोरे में बंद किया और जंगल में फेंक दिया। गुरुवार को सुबह ग्रामीणों ने जंगल में मासूम को बोरे में बंधी हुई देखा और पुलिस को सूचना दी। बच्ची को गंभीर हालत में दमोह जिला अस्पताल पहुंचाया गया, जहां प्राथमिक उपचार के बाद उसे जबलपुर रैफर किया गया है।जबेरा थाना पुलिस के अनुसार, सात वर्षीय मासूम बच्ची बुधवार शाम से ही लापता थी। बच्ची के दादा ने बताया कि दुकान से सामान लाने के लिए उन्होंने उसे 20 रुपये दिए थे। वह सामान लेने के लिए दुकान गई थी, लेकिन वापस लौटकर नहीं आई। गुरुवार सुबह वह एक बोरे में बंधी हुई हालत में ग्रामीणों ने उसे देखा। उसके हाथ-पैर बंधे हुए थे और एक आंख से खून रिस रहा था। गंभीर हालत में बच्ची को दमोह के जिला अस्पताल पहुंचाया गया। पुलिस के अनुसार, मासूम के साथ दुष्कर्म किया गया और उसकी एक आंख फोडऩे के बाद उसे बोरे में बांधकर जंगल में फेंका गया। घटना के बाद ग्रामीणों में काफी आक्रोश है। मनावता को शर्मसार करने वाली इस घटना के बाद स्थानीय लोगों ने जबेरा थाने का घेराव कर दिया। ग्रामीणों ने थाने पहुंचकर जमकर हंगामा किया। ग्रामीणों की मांग है कि जल्द से जल्द आरोपित को पकडक़र कठोर से कठोर सजा दी जाए। पुलिस अधीक्षक हेमंत चौहान ने बताया कि बच्ची बुधवार शाम से लापता था, गुरुवार सुबह वह गंभीर हालत में मिली है। उसे गंभीर हालत में जबलपुर रैफर किया गया है। घटना के बाद गांव में भारी पुलिस बल तैनात कर दिया गया है और चप्पे-चप्पे पर पुलिस तैनात की गई है। वहीं, पुलिस आरोपितों का पता लगाने में जुटी है। अभी यह पता नहीं चल पाया है कि बदमाश कितने थे।

Dakhal News

Dakhal News 23 April 2020


bhopal, Two more deaths, from corona,Madhya Pradesh, infected patients, cross 1500

भोपाल। मध्यप्रदेश में कोरोना का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा है। मंगलवार को सुबह इस महामारी से दो लोगों की मौत हुई है, जबकि प्रदेश में 30 नये कोरोना पॉजिटिव मरीज मिले हैं। इसके साथ ही प्रदेश में कोरोना से मरने वालों की संख्या 78 हो गई है, जबकि कुल संक्रमित मरीजों की संख्या 1500 के पार पहुंच गई है। यह संख्या 1515 हो गई है। उज्जैन के नीलगंगा थाने में पदस्थ टीआई यशवंत पाल (59) की मंगलवार को अलसुबह कोरोना से मौत हो गई। उनका इंदौर के अरबिंदो अस्पताल में उपचार चल रहा था, जहां उनका निधन हो गया। इसके साथ ही जबलपुर में भी मंगलवार को सुबह छह नये कोरोना पॉजिटिव मामले सामने आए हैं, जिनमें एक मृतक की रिपोर्ट भी पॉजिटिव आई है। इस प्रकार प्रदेश में मंगलवार को कोरोना से दो लोगों की मौत की पुष्टि हुई है। इंदौर में सोमवार को देर रात मेडिकल कॉलेज द्वारा जारी रिपोर्ट में 18 नये पॉजिटिव मामले सामने आए हैं, जबकि उज्जैन में भी मंगलवार को सुबह जारी रिपोर्ट में छह मरीज पॉजिटिव पाए गए हैं। यानी मंगलवार सुबह तक कुल 30 नये कोरोना संक्रमित मरीज सामने आए हैं, जिनमें इंदौर के 18, जबलपुर के 6 और उज्जैन के 6 मरीज शामिल है। मध्यप्रदेश में इन नये पॉजिटिव मामलों को मिलाकर अब कोरोना संक्रमित मरीजों की कुल 1485 से बढक़र 1515 हो गई है। इनमें सबसे अधिक इंदौर में में 915, भोपाल 254, खरगौन 41, धार 36, खंडवा 32, उज्जैन 33, होशंगाबाद 25, बड़वानी 24, रायसेन 24, जबलपुर 27, देवास 19, मुरैना 16, विदिशा 13, रतलाम 09, मंदसौर 08, आगरमालवा 08, ग्वालियर 06, शाजापुर 06, श्योपुर 04,  छिंदवाड़ा 04, अलीराजपुर 03, शिवपुरी 02, सागर 02, बैतूल 01, टीमकगढ़ 01, राजगढ़ 01 तथा एक मरीज अन्य राज्य का शामिल है। वहीं, प्रदेश में कोरोना से मरने वालों की संख्या 76 से बढक़र 78 हो गई है। मृतकों में मृतकों में सबसे अधिक इंदौर 52, भोपाल में 07, उज्जैन में 07, खरगौन 04, देवास 05, छिंदवाड़ा 01, जबलपुर 01 और मंदसौर का एक व्यक्ति शामिल है।

Dakhal News

Dakhal News 21 April 2020


bhopal, Digvijay requested ,Union Home Minister , send home  students of Jammu Kashmir

भोपाल। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह को पत्र लिखकर भोपाल में फंसे जम्मू-कश्मीर छात्र-छात्राओं को रमजान के पवित्र माह में उनके घर भेजने की व्यवस्था करने का अनुरोध किया है। उन्होंने पत्र में उल्लेख किया है कि राजस्थान के कोटा में फंसे विद्यार्थियों को यूपी सरकार ने 100 बसें भेजकर अपने घर पहुंचाया और शेष विद्यार्थियों के लिए भी व्यवस्था की जा रही है। मध्यप्रदेश सरकार भी कोटा में फंसे प्रदेश के विद्यार्थियों को वापस लाने की तैयारी कर रही है।  उन्होंने पत्र में लिखा है कि हाल ही में यूपी के वाराणसी से एक हजार तीर्थ यात्रियों को भी दक्षिण भारत के राज्यों में उनके घर पहुंचाने की व्यवस्था यूपी सरकार द्वारा की गई है। उन्होंने लिखा है कि मैं इस पत्र के साथ जम्मू-कश्मीर के लगभग 135 छात्र-छात्राओं की सूची प्रेषित कर रहा हूं। ये सभी भोपाल के बरकतउल्लाह विश्वविद्यालय और आरकेडीएफ विश्वविद्यालय में अध्ययन-शोध कर रहे छात्र-छात्राएं हैं, जो लॉकडाउन के कारण भोपाल में फंसे हुए हैं। इनमें से अधिकांश छात्र-छात्राएं मुस्लिम हैं। आगामी 23 अप्रैल से रमजान का पवित्र महीना शुरू हो रहा है। लॉकडाउन के कारण सभी शैक्षणिक संस्थान बंद हैं और इन विद्यार्थियों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। इसीलिए ये सभी अपने घर जाना चाहते हैं। उन्होंने पत्र के माध्यम से केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह से अनुरोध किया है कि जिस तरह यूपी सरकार ने कोटा से विद्यार्थियों को वापस लाने और वाराणसी से तीर्थ यात्रियों को अफने घर भेजने की व्यवस्था की थी, उसी प्रकार भोपाल में फंसे जम्मू-कश्मीर के इन छात्रों को भी उनके राज्य वापस भेजने की अनुमति देने और दोनों राज्यों में समन्वय स्थापित कर उन्हें जम्मू-कश्मीर भिजवाने की व्यवस्था करने के लिए आवश्यक कदम उठाया जाए। उन्होंने लिखा है कि इन छात्र-छात्राओं को जम्मू-कश्मीर ले जाकर निर्धारित प्रोटोकाल के मुताबिक क्वारेंटाइन किया जा सकता है, ताकि वे अपने घर भी पहुंच जाएं और महामारी को फैसले से भी बचाया जा सके।

Dakhal News

Dakhal News 21 April 2020


bhopal, Shivraj cabinet ,constituted, Governor administered ,oath , five ministers

भोपाल। मध्यप्रदेश में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने लम्बे इंतजार के बाद आखिरकार मंगलवार को अपने मंत्रिमंडल का गठन कर लिया है। राजभवन में दोपहर 12 बजे एक सादे समारोह में राज्यपाल लालजी टण्डन ने पांच मंत्रियों को पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलायी। इनमें वरिष्ठ नेता नरोत्तम मिश्रा, तुलसीराम सिलावट, कमल पटेल, गोविन्द सिंह राजपूत और मीना सिंह शामिल हैं। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने गत २३ मार्च को मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी, जिसके बाद से वे अकेले ही सरकार चला रहे थे। कोरोना संकट के बीच मंत्रिमंडल का गठन नहीं हो पा रहा था। मंगलवार को उन्होंने पांच सदस्यीय मंत्रिमंडल का गठन किया। राजभवन में आयोजित समारोह में सबसे पहले डा. नरोत्तम मिश्रा ने पद एवं गोपनीयता की शपथ ली। इसके बाद तुलसीराम सिलावट, कमल पटेल, गोविन्द सिंह राजपूत और मीना सिंह को राज्यपाल लालजी टण्डन ने शपथ दिलाई। इसके बाद राष्ट्रगान जन-गण-मन- के गायन से समारोह का समापन हुआ।   जल्द ही मंत्रियों को विभागों का बंटवारा किया जाएगा। मंगलवार को ही मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मंत्रालय में कैबिनेट की बैठक बुलाई है, जिसमें कोरोना संकट को लेकर चर्चा होगी।  

Dakhal News

Dakhal News 21 April 2020


new delhi, People problems, increased, due to lockdown,digvijay

नई दिल्ली। कोरोना वायरस के प्रकोप को रोकने के लिए केंद्र सरकार द्वारा लगाए गए लॉकडाउन से जनता को होने वाली परेशानी को लेकर कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि पूर्ण तालाबंदी की घोषणा से पहले लोगों को वक्त ना देकर प्रधानमंत्री ने सिर्फ अपनी मर्जी चलाई, जिसका खामियाजा जनता को भुगतना पड़ रहा है। दिग्विजय सिंह ने रविवार को ट्वीट कर कहा, “मोदी जी, सभी के साथ समान व्यवहार होना चाहिए। यदि आप 24 मार्च को संपूर्ण लॉकडाउन करने के लिए चार घंटों के बजाय 20 मार्च के देश को दिए गए संदेश में 4 दिन दे देते, जैसा कि अन्य देशों में हुआ है तो यह समस्या खड़ी नहीं होती। लेकिन आप उस मनोवृत्ति के हो गये हैं ‘मैं और मेरी मर्ज़ी’। ऐसे में आपको जनता की समस्या की परवाह ही कहां है।”   केंद्र की मोदी सरकार पर जन भावनाओं की उपेक्षा का आरोप लगाते हुए कांग्रेस नेता ने कहा कि यदि लोगों को लॉकडाउन से पहले संभलने का वक्त दिया गया होता को वे अपनी जरूरतों के मुताबिक व्यवस्था करते। लेकिन प्रधानमंत्री महोदय को तो सिर्फ अपनी ही पड़ी रहती है।   वहीं एक अन्य ट्वीट में दिग्विजय सिंह ने लिखा कि जब कोटा (राजस्थान) में फंसे उत्तर प्रदेश के छात्रों के लिए सरकार 300 बसें चला सकती है। वाराणसी में फंसे एक हजार दक्षिण भारत के तीर्थ यात्रियों की वापसी के लिए बसों की व्यवस्था की जा सकती है तो फिर लॉकडाउन की इस स्थिति में परेशान गरीब मजदूर वर्ग को उनके घर पहुंचाने की व्यवस्था करने में सरकार हिचकिचा क्यों रही है। उन्होंने पूछा कि जब विदेशों में फंसे भारतीयों के प्लेन की सुविधा दी जाती है तो प्रवासी मजदूरों के साथ दोहरा व्यवहार क्यों किया जा रहा है।

Dakhal News

Dakhal News 19 April 2020


bhopal, Kamal Nath ,expressed grief ,death of Indore TI, compensation, one crore rupees

भोपाल। मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने इंदौर जूनी थाने के टीआई देवेन्द्र चंद्रवंशी के निधन पर गहरा दुख व्यक्त किया है। कमलनाथ ने ट्वीट कहा है कि इंदौर के जुनी इंदौर थाने में प्रभारी रहे पुलिस अधिकारी देवेन्द्र चंद्रवंशी जनता की सुरक्षा के लिये, अपने कर्तव्यों का ईमानदारी से पालन करते हुए, आज कोरोना की जंग हार गये। ऐसे कर्तव्यनिष्ठ अधिकारी की शहादत को सलाम। परिवार के प्रति मेरी शोक संवेदनाएँ। ईश्वर उन्हें अपने श्रीचरणो में स्थान प्रदान करे। साथ ही कमलनाथ ने प्रदेश सरकार से टीआई के परिजनों को एक करोड़ रुपए मुआवजा देने की मांग की है।   कमलनाथ ने प्रदेश सरकार से कोरोना वारिसर्य को तत्काल सुरक्षा के आवश्यक संसाधन उपलब्ध कराने की मांग भी की है। उन्होंने ट्वीट कर कहा है कि मैं आज एक बार फिर सरकार से यह माँग कर रहा हूँ कि जनता की सुरक्षा के लिये अपनी जान को जोखिम में डाल, फ़ील्ड में काम कर रहे डॉक्टर्स, स्वास्थ्यकर्मी, पुलिस कर्मी, मेडिकल स्टाफ़, आशा कार्यकर्ता, अधिकारी-कर्मचारी ही जिस प्रकार से बड़ी संख्या में कोरोना से संक्रमित होते जा रहे है,सभी को तत्काल पीपीई किट, मास्क से लेकर सुरक्षा के आवश्यक सारे संसाधन उपलब्ध कराये जाये। फ़ील्ड में काम कर रहे इन सभी कर्मवीर योद्धाओं को अन्य राज्यों की तरह 50 लाख के बीमा के दायरे में लाकर सुरक्षा कवच प्रदान की जावे।   कमलनाथ ने कहा कि मैं सरकार से यह भी माँग करता हूँ कि प्रदेश के जिन जिलों में कोरोना अभी तक नहीं पहुँचा है या जहाँ कोरोना संक्रमण के कम मामले है, वहाँ के पुलिस फ़ोर्स को तत्काल कोरोना प्रभावित रेड हॉट स्पॉट जिलो में पदस्थ किया जाए। उन जिलों में रोटेशन पद्धति लागू की जाए, जिससे रात-दिन काम कर रही वहाँ की फ़ोर्स का भार भी कम हो सके। साथ ही मैं सरकार से यह भी माँग करता हूँ कि इंदौर के शहीद पुलिस अधिकारी को शहीद का दर्जा देकर, सहायता राशि बढ़ाकर, परिवार को एक करोड़ रुपये की आर्थिक सहायता प्रदान की जाए।

Dakhal News

Dakhal News 19 April 2020


indore,TI, who beat Corona, died ,heart attack

इंदौर। इंदौर के पश्चिमी क्षेत्र स्थित जूनी इंदौर थाना प्रभारी देवेंद्र चंद्रवंशी को कोरोना पॉजिटिव आने के बाद अरविंदो अस्पताल में भर्ती किया गया था, जहां शनिवार देर रात उपचार के दौरान उनकी मौत हो गई। इंदौर सीएमएचओ डॉ. प्रवीण जडिय़ा ने बताया कि टीआई चंद्रवंशी ने कोरोना को मात दे दी थी। उनकी जांच रिपोर्ट एक बार निगेटिव आ चुकी है, लेकिन शनिवार देर रात करीब दो बजे उनकी कार्डियक अरेस्ट (हार्ट अटैक) से मौत हो गई। इधर, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने टीआई के निधन पर शोक व्यक्त करते हुए उनके परिजनों को 50 हजार रुपये का मुआवजा और पत्नी को नौकरी देने की घोषणा की है। अरविंदो अस्पताल के एमडी डॉ. विनोद भंडारी ने बताया कि जूनी इंदौर थाना प्रभारी देवेंद्र चंद्रवंशी (46) कोरोना से संक्रमित होने के बाद 19 दिन से अस्पताल में भर्ती थे। उन्हें गत 31 मार्च को अरविंदो अस्पताल में भर्ती किया गया था और उनकी स्थिति में लगातार सुधार हो रहा था। गत 16 और 17 अप्रैल को सेम्पल जांच के लिए भेजे थे, जिनकी रिपोर्ट निगेटिव आई थी। इंदौर सीएमएचओ डॉ. प्रवीण जडिय़ा ने भी इसकी पुष्टि की है। उन्होंने बताया कि दूसरी बार उनके सेम्पल जांच के लिए भेजे गए हैं और रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद उन्हें जल्द ही छुट्टी देने की तैयारी थी, लेकिन शनिवार-रविवार की दरमियानी रात करीब दो बजे उन्हें कार्डियक अरेस्ट आया और उनकी मौत हो गई।मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान रविवार को ट्वीट करते हुए टीआई चंद्रवंशी के निधन पर गहन दुख व्यक्त किया है। उन्होंने शोक संतप्त परिवार के प्रति संवेदना व्यक्त करते हुए सुरक्षा कवच के रूप में 50 लाख रुपये की राशि स्वीकृत करने और दिवंगत अधिकारी की पत्नी को सब इंस्पेक्टर के पद पर पदस्थापना की घोषणा भी की है। बता दें कि 2007 में एसआई बने चंद्रवंशी शाजापुर जिले के रहने वाले थे। उनकी मौत से पुलिस महकमे में शोक की लहार है। चंद्रवंशी के साथ तैनात रहे जूनी इंदौर थाने के एएसआई भी कोरोना की चपेट में आ गए थे, वहीं खजराना टीआई संतोष सिंह का भी इलाज चल रहा है। इसके बाद दोनों थाने को पूरे स्टाफ को क्वारेंटाइन किया गया है।

Dakhal News

Dakhal News 19 April 2020


bhopal, Digvijay,appropriate compensation ,farmers , damaged orange crop

भोपाल। मध्यप्रदेश में कोरोना महामारी के संकट के बीच कांग्रेस के वरिष्ठ नेता रोजाना मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को पत्र लिखकर नागरिकों नागरिकों की समस्याओं की ओर उनका ध्यान आकर्षित किया जा रहा है। इसी क्रम में अब दिग्विजय सिंह ने सीएम शिवराज को पत्र लिखा है, जिसमें उन्होंने आगरमालवा जिले में खराब हुई संतरे की फसल का सर्वे कराकर किसानों को उचित मुआवजा देने की मांग की है। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और प्रदेश के पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह ने गुरुवार को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को पत्र लिखा है, जिसमें उन्होंने उल्लेख किया है कि आगर-मालवा जिले एवं इसके आसपास के क्षेत्र में किसानों की संतरे की फसल खराब हो गई है। कुछ दिन पहले आंधी एवं तेज हवाओं के कारण संतरे के बगीचों से फल गिरकर खराब हो गए हैं, वहीं दूसरी ओर लॉक डाउन के चलते न तो मजदूर मिल रहे हैं और न ही किसान स्थानीय बाजारों में अथवा बाहरी व्यापारियों को संतरे बेच पा रहे हैं। मध्यप्रदेश में ऐसा अन्य स्थानों पर भी होना संभावित है, जिसके परिणामस्वरूप किसानों को भारी आर्थिक नुकसान होने की आशंका है। उन्होंने पत्र में सीएम शिवराज से अनुरोध किया है कि प्रदेश में संतरे की फसल में हुए नुकसान का सोशल डिस्टेंसिंग को ध्यान में रखते हुए सर्वे करवाया जाए और किसानों को उचित मुआवजा राशि प्रदान करने के लिए आवश्यक दिशान निर्देश जारी किये जाएं।

Dakhal News

Dakhal News 16 April 2020


bhopal, Jitu Patwari, big statement, Shivraj incompetent center

भोपाल। मध्य प्रदेश में कोरोना संक्रमण की स्थिति भयावह हो गई है। प्रदेश भर में कोरोना संक्रमितों की संख्या एक हजार के पार पहुंच गई है। कोरोना वायरस से संक्रमितों का सबसे ज्यादा मामला इंदौर में सामने आया हैं। यहां करीब सात सौ लोग कोरोना की चपेट में आ चुके हैं। इंदौर के बिगड़े हालातों को देखते हुए पूर्व मंत्री और कांग्रेस प्रदेश मीडिया प्रभारी जीतू पटवारी ने बड़ा बयान दिया है। उन्होंने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान पर हमला बोलते हुए उन्हें कोरोना संकट से निपटने में असमर्थ बताया है और साथ ही केन्द्र सरकार से प्रदेश में कोरोना संकट से उबरने के लिए मोर्चा संभालने की मांग की है।    जीतू पटवारी ने गुरुवार को बयान जारी कर इंदौर में कोरोना से बिगड़े हालात पर चिंता जाहिर करते हुए कहा है कि हेल्थ बुलेटिन स्वास्थ्य विभाग ने जारी किया है। जिसमें इंदौर में चार सौ से ज्यादा सेंपल भेजे गए थे और जांच में दो सौ से ज्यादा पॉजिटिव आए है। जीतू पटवारी ने कहा कि यह आंकड़ा लॉकडाउन के 25वें दिन हुआ है, मैं मानता हूं कि यह गंभीर समस्या है। कोरोना के बढ़ते मामलों पर सवाल उठाते हुए जीतू ने कहा कि ऐसे में हम या तो टेस्टिंग सही से नही कर पा रहे है, या हम लॉकडाउन के नियम का सही से पालन नहीं करवा पा रहे हैं, या हम बीमारी के तीसरे स्टेज पर पहुुंच गए हैं, जो बिना लक्षण के मरीज पॉजिटिव निकल रहे हैं, इसका मतलब है कि क्या पूरे समाज में यह बीमारी फैल रही हैं।    पटवारी ने आगे कहा कि मैं मानता हूं कि यह स्थिति रेड जोन के गंभीर स्टेज पर है। बार बार हम सीएम से अनुरोध कर रहे हैं कि आप अपना हेडक्वार्टर इंदौर बनाए, लेकिन पता नहीं वो किस कारण से ऐसा नहीं कर रहे है। उन्होंने कहा कि यह भी जरुर है कि इंदौर के 40 लाख लोगों की जान को हम मुख्यमंत्री के भरोसे मौत के मुंह में नहीं डाल सकते। इंदौर परिवार का होने के नाते मैं देश के प्रधानमंत्री से आग्रह करता हूं कि इस पूरी स्थिति को आप संभाले और हेल्थ इमरजेंसी से बड़ा आपका कोई कारगर नियम हो तो उसे लागू करें। पूर्व मंत्री ने कहा कि मैं यह अनुरोध इसलिए करना चाहता हूं क्योंकि हमारे स्वास्थ्य विभाग के 70 कर्मचारी इस बीमारी से पहले ही ग्रसित हो चुके है। बार बार कितने भी प्रयास के बाद भी स्थिति दिन पर दिन बिगड़ती ही जा रही है। मैं मानता हूं कि इस परिस्थिति से निपटने के लिए हमारा मुख्यमंत्री सक्षम नहीं है इसलिए स्थिति को संभालने के लिए देश की सरकार इस पर ध्यान दें और इंदौर की जनता की जान पर जो आफत आई है उसे संभाले।   

Dakhal News

Dakhal News 16 April 2020


bhopal,Number ,Kovid 19 infected, Madhya Pradesh, 57 dead

भोपाल। मध्‍य प्रदेश में पिछले 24 घंटों में कोरोना वायरस (कोविड-19) का संक्रमण तेजी के साथ बढ़ा है। यहां देर रात तक संक्रमितों की संख्‍या बढ़कर 999 पहुंच गई, जबकि अभी कई कोरोना से संभावित संक्रमितों की टेस्‍ट रिपोर्ट आना बाकी है, इसके बाद कहना होगा कि प्रदेश में इस महामारी की चपेट में आने वालों की संख्‍या गुरुवार को 1000 पार कर चुकी है। वहीं इस बीमारी के संक्रमण के चलते अब तक 57 लोग अपनी जान गवां चुके हैं। गुरुवार सुबह तक प्रदेश के विभिन्न जिलों में 239 मरीजों में संक्रमण की पुष्टि हुई है। इंदौर से दिल्ली भेजे गए 200 सैंपल की जांच रिपोर्ट में से 117 पॉजिटिव मिले हैं।   इसके अलावा देर रात अन्य 47 संक्रमित मिले हैं, जिन्‍हें मिलाकर एक दिन में इंदौर में 164 मरीजों में कोरोना की पुष्टि हुई है। यहां कुल मरीजों की संख्‍या 696 पहुंच गई है । 92 की हालत स्थिर है और तीन गंभीर है। इंदौर में कल 4 मौत हुई और आंकड़ा 39 पर पहुंच गया है। सीएमएचओ डॉ प्रवीण जड़िया के अनुसार 117 संक्रमितों में से अधिकतर पहले से ही क्‍वॉरेंटाइन हाउस में रह रहे हैं जो कि प्रथम कान्‍टेक्‍ट हिस्‍ट्री के तहत क्‍वॉरेंटाइन किए गए हैं। भोपाल में 10 नए संक्रमित पाए गए हैं। इसमें एक दो साल का बच्चा व पूर्व में संक्रमित हो चुके लोगों के परिवार जन शामिल हैं। राजधानी भोपाल के जहांगीराबाद निवासी पॉजिटिव व्यक्ति के बेटे और बेटे के साले के बाद अब बहू भी कोरोना पॉजिटिव पाई गई है। इस तरह कुल संक्रमितों की संख्या 170 हो गई है। बड़वानी जिले में पांच पॉजिटिव बड़वानी जिले में पांच नए कोरोना संक्रमित मरीज मिले हैं। यहां अब तक जिले में 22 संक्रमित मरीज मिले हैं।   वहीं, देवास जिले में सात नए केस सामने आए हैं, जिसके बाद अब यहां कोविड-19 पॉजिटिव संख्‍या 15 हो चुकी है। चार संक्रमित यहां पर भी इस बीमारी से मौत का शिकार हो चुके हैं। ऐसे ही खंडवा में जमातियों के संपर्क में आने के कारण से अधिकतम लोग इस जिले में संक्रमित हुए हैं, जिसमें से आज सुबह तक सर्वाधिक 18 कोरोना पॉजीटिव मिले हैं। इसके बाद खण्‍डवा में 33 मरीज कोरोना के हो गए हैं। तीन हाटपिपलिया के एक ही परिवार के सदस्‍य प्रदेश में कोरोना मरीज मिले  हैं।   उधर, जिस तरह से मध्‍य प्रदेश में कोरोना के संक्रमित मिल रहे हैं, उसे देखते हुए केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने प्रदेश के इंदौर, भोपाल, उज्जैन, खरगोन और होशंगाबाद जिलों को रेड हॉट स्पॉट घोषित किया है। केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव ने सभी राज्यों के मुख्य सचिवों को 28 दिन के अंदर रेड अलर्ट वाले जिलो को ग्रीन अलर्ट में बदलने के निर्देश दिए है। इस मामले में केंद्र ने कड़ाई से नियमों का पालन करने का कहा है।   इसके अलावा रतलाम जिले में अभी तक 13 मरीज मिल चुके हैं। पिछले 24 घण्‍टे में यहां पर 10 लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। धार में दो नए मरीज मिले हैं। आलीराजपुर में पहला मामला इस दौरान सामने आया है। मंदसौर में पांच नए केस सामने आए हैं। जिले में अब सात पॉजिटिव मरीज हो गए हैं।  जबलपुर में एक और पॉजिटिव मिला है, जिसके बाद इस जिले में 13 संक्रमित हो गए हैं। इस सब के बीच ग्वालियर-चंबल में एक अच्‍छी खबर भी सामने आई है। यहां के भेजे गए सभी 166 रिपोर्ट निगेटिव आई हैं। ग्वालियर-चंबल अंचल से बुधवार को राहतभरी खबर आई। यहां सभी 166 रिपोर्ट निगेटिव आई है। इस अंचल में ग्‍वालियर, मुरैना, भिण्‍ड, श्‍योपुर, शिवपुरी, दतिया गुना और अशोकनगर जिले शामिल हैं। यहां अभी तक कोरोना के कुल 25 संक्रमित मिले हैं। रीवा, सागर जैसे विंध्‍य और बुन्‍देलखण्‍ड अंचल में भी कोरोना का प्रदेश में कोई प्रभाव अभी तक बड़े स्‍तर पर देखने को नहीं मिला है।   उल्‍लेखनीय है कि मध्‍य प्रदेश में इंदौर और भोपाल संभाग में ही सबसे अधिक कोरोना का संक्रमण फैला हुआ है। इंदौर में कंटेनमेंट एरिया की संख्या ही 125 है, जिसमें केवल 25 फीसदी लोगों की ही स्क्रीनिंग हो पाई है। तीन हजार से ज्यादा सैंपल लिए हैं पर कंटेनमेंट एरिया में डोर डू डोर सैंपलिंग नहीं हो पा रही है। फिलहाल, स्क्रीनिंग के लिए इंदौर में 465 टीम काम कर रही हैं, जिसने द्वारा पिछले छह दिन में ही लगभग शहर के ढाई लाख लोगों की जांच की गई है। वहीं, यहां अभी साढ़े सात लाख लोगों की स्क्रीनिंग होना अभी शेष है। शहर में 1700 लोगों को अभी क्वारेंटाइन  में रखा गया है। इसके उलट प्रदेश की राजधानी भोपाल में स्क्रीनिंग की रफ्तार बहुत तेज है। जहांगीराबाद जैसे इलाके में वहां एक दिन में ही 900 सैंपल लिए गए हैं। जिसमें से 415 लोगों में जुकाम-खांसी एवं हल्‍का बुखान होने की जानकारी मिली, जिन्‍हें कि अब आइसोलेट कर दिया गया है। 

Dakhal News

Dakhal News 16 April 2020


bhopal, CM Shivraj Singh, salutes , birth anniversary ,constitution maker ,Dr. Bhimrao Ambedkar

भोपाल। संविधान के मुख्य वास्तुकार और महान समाज सुधारक बाबासाहेब भीमराव अंबेडकर की आज मंगलवार को 129वीं जयंती है। डॉ. भीमराव अंबेडकर का जन्म 14 अप्रैल सन् 1891 में मध्यप्रदेश के महू में हुआ था। कोरोना वायरय के कारण देशभर में लगे लॉकडाउन के चलते दलित समुदाय के सामाजिक नेताओं और राजनीतिक पार्टियों के द्वारा अंबेडकर जयंती को अपने-अपने घरों से मनाने की अपील की गई है। मप्र के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बाबा साहेब अंबेडकर को उनकी जयंती पर नमन करते हुए प्रदेशवासियों से कोरोना संकट के बीच जरुरतमंदों की सहायता करने की अपील की हैं।    मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट कर बाबा साहेब की जयंती पर उन्हें नमन करते हुए लिखा ‘भारत के संविधान के निर्माता, अपने कर्मों और विचारों से समाज को एक नई दिशा देने वाले महापुरुष, गरीबों और दलितों के कल्याण के लिए अपना सर्वस्व न्योछावर करने वाले मध्यप्रदेश की माटी के लाल स्व. डॉ. भीमराव अंबेडकर जी को जयंती पर सादर नमन’।    एक अन्य ट्वीट कर सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कोरोना संकट के कारण बनी लॉकडाउन की स्थिति में लोगों से जरुरतमंदों की मदद करने की अपील की है। उन्होंने कहा कि ‘आज अंबेडकर जयंती है, पहले हर साल 14 अप्रैल को भाजपा सरकार महू में बाबा साहब की जन्मस्थली पर अंबेडकर महाकुंभ का अयोजन करते थे। इस साल भी हमारी इच्छा थी कि अंबेडकर महाकुंभ का आयोजन महू में किया जाए, लेकिन कोरोना महामारी के चलते हमने संकल्प लिया है कि हम कोई सार्वजनिक कार्यक्रम नहीं करेंगे। इसलिए मैं महू नहीं जा रहा हूं, लेकिन मैंने तय किया है कि अंबेडकर जयंती पर मैं अपने निवास पर बाबा साहब अंबेडकर के चित्र पर उनकी जयंती पर माल्यार्पण कर उनके चरणों में श्रद्धासुमन अर्पित करूंगा। सीएम शिवराज ने कहा कि मैं आप सब से भी निवेदन करुंगा कि आप सभी बाबा साहब को नमन कर संकल्प ले कि यह समय #SocialDistancing का पालन करने का समय है, साथ ही यह भी सुनिश्चित करना है कि कोई भूखा न रहे। आइये, आज बाबासाहेब को श्रद्धांजलि देने हेतु प्रण लें कि आवश्यक सावधानी रखते हुए गरीब बस्ती के कम से कम दो परिवारों को भोजन और राशन उपलब्ध कराएंगे और होममेड मास्क भी वितरित करेंगे।   भाजपा प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा ने ट्वीट कर लिखा ‘भारत रत्न बाबा साहेब डॉ भीमराव अम्बेडकर जी की जयंती पर कोटि कोटि नमन’।   भाजपा राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने बाबा साहेब अंबेडकर को जयंती पर श्रद्धांजलि देते हुए अपने ट्वीट में लिखा ‘भारत के संविधान के रचयिता...दलित-शोषित समाज के उद्धारकर्ता...महामानव 'भारत रत्न' डॉ. भीमराव रामजी अम्बेडकर जी की जयंती पर शतश: नमन’। 

Dakhal News

Dakhal News 14 April 2020


bhopal, 50 people died ,corona infection , reached 722

भोपाल। मध्यप्रदेश में कोरोना संक्रमित मरीजों का आंकड़ा लगातार बढ़ता जा रहा है। यहां सबसे अधिक कोरोना संक्रमित शहर इंदौर में मंगलवार को सुबह महात्मा गांधी मेडिकल कॉलेज द्वारा जारी रिपोर्ट में 74 नये कोरोना पॉजिटिव मरीज मिले हैं। इसके साथ ही इंदौर में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 362 से बढक़र 436 हो गई है, जबकि प्रदेश में कुल मरीजों का आंकड़ा बढक़र 722 पर पहुंच गया है। नये मरीजों में दो चिकित्सक, एक पत्रकार और एक मेडिकल दुकान संचालक भी शामिल है। वहीं, मध्यप्रदेश में कोरोना से अब तक 50 लोगों की जान चुकी है। इनमें सबसे अधिक इंदौर के 35 लोग शामिल है। इंदौर के सीएमएचओ डॉ. प्रवीण जडिय़ा ने बताया कि महात्मा गांधी मेडिकल कालेज द्वारा मंगलवार सुबह 91 कोरोना पॉजीटिव मरीजों की सूची जारी की थी, लेकिन सूची में कुछ नाम रिपीट हो गए थे। साथ ही पूर्व से कोरोना पॉजीटिव मरीजों की दोबारा जांच कराई गई थी और वे दूसरी जांच में भी संक्रमित पाए गए हैं। इस कारण सूची की समीक्षा के बाद कुल 74 नए कोरोना मरीज सामने आए हैं। इसके साथ ही इंदौर में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 436 हो गई है। नये मरीजों में दो डॉक्टर, एक पत्रकार और मेडिकल स्टोर संचालक के साथ ही इंदौर विकास प्राधिकरण के पीआरओ की पत्नी भी कोरोना पॉजीटिव पाई गई है।इसके साथ ही मध्यप्रदेश में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या बढक़र 722 हो गई है। इनमें सबसे अधिक इंदौर में 436 के अलावा, भोपाल में 142, जबलपुर 10, ग्वालियर 06, शिवपुरी 02, उज्जैन 24, खरगौन 17, मुरैना 14, छिंदवाड़ा 04, बड़वानी 14, बैतूल 01, विदिशा 13, श्योपुर 02, होशंगाबाद 15, खंडवा 05, रायसेन 04, देवास 04, धार 02, सागर 01, शाजापुर 01, मंदसौर 01, रतलाम 01, सतना 02 तथा एक मरीज अन्य राज्य का शामिल है। वहीं, मध्यप्रदेश में कोरोना से अब तक 50 लोगों की मौत हो चुकी है। मृतकों में इंदौर के 35 भोपाल 04, उज्जैन 06, खरगौन 03, छिंदवाड़ा 01 और देवास का 01 मरीज शामिल है। राहत की खबर यह है कि कुल कोरोना संक्रमित मरीजों में 51 स्वस्थ हो चुके हैं और उनकी दूसरी बार रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद अस्पताल से छुट्टी दे गई है और वे अपने घर पहुंच चुके हैं। 

Dakhal News

Dakhal News 14 April 2020


new delhi, Lockdown extended, country, till May 3, Conditional relaxation

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मंगलवार को देश के नाम अपने संदेश में कोरोना महामारी के फैलाव की रोकथाम के लिए देशभर में जारी लॉकडाउन को 3 मई तक बढ़ाने की घोषणा की। इसके साथ ही साफ किया कि कोरोना संक्रमण से अब तक बचे रहे क्षेत्रों  में 20 अप्रैल से लॉकडाउन में सशर्त ढील देने दी जा सकती है।  उन्होंने कहा कि इस संबंध में विस्तृत दिशा-निर्देश सरकार की ओर से बुधवार को जारी किए जायेंगे।     प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मंगलवार सुबह 10 बजे राष्ट्र के नाम अपने संबोधन में कहा कि राज्यों के मुख्यमंत्रियों सहित विशेषज्ञों का यह मानना है कि लॉकडाउन को आगे बढ़ाना चाहिए। अनेक राज्यों ने तो पहले से ही लॉकडाउन बढ़ाने की घोषणा कर दी है। सबकी राय मानते हुएदेशभर में लॉकडाउन को 3 मई (रविवार) तक आगे बढ़ाने का फैसला किया है। 21 दिन के लॉकडाउन के बाद 19 दिन की और बढ़ोत्तरी करने से देश भर में कुलमिलाकर 40 दिन का लॉकडाउन हो जाएगा।    प्रधानमंत्री ने कहा कि सरकार का मकसद है कि देश में कोरोना का संक्रमण नए क्षेत्रों में न फैले। इसके लिए अगले एक सप्ताह तक कोरोना संक्रमण को लेकर अधिक सख्ती बरती जाएगी। संक्रमण रोकने के लिए सख्ती का कड़ाई से पालन कराने वाले और अबतक संक्रमण से बचे रहने वाले क्षेत्रों में एक सप्ताह बाद यानी 20 अप्रैल से लॉकडाउन में सशर्त ढील दी जाएगी। ऐसा दिहाड़ी मजदूरों, गरीबों, किसानों के लिए किया जाएगा जो कि कोरोना संक्रमण से सबसे ज्यादा प्रभावित है। साथ ही उन्होंने सख्त हिदायत देते हुए कहा कि छूट दिए जाने के बाद अगर संक्रमण का प्रसार इन क्षेत्रों में होता है तो तुरंत प्रभाव से सभी रियायतें व ढील वापिस ले ली जाएगी।    मोदी ने कहा कि वर्तमान में देश में रवि की फसल की कटाई का समय है, ऐसे में केन्द्र और राज्य सरकारें किसानों को कम से कम दिक्कत हो, इसका प्रयास कर रही हैं। उन्होंने कहा कि देश में जरूरत के सामान में कमी नहीं है और सरकार सामान की आवाजाही सुगम बना रही है। इसके अलावा स्वास्थ्य संबंधित सुविधाओं को भी बढ़ाया जा रहा है। प्रधानमंत्री ने अपने संदेश में देश के युवा वैज्ञानिकों से आग्रह किया कि वह अधिक प्रयास कर इस बीमारी के खिलाफ वैक्सिन बनाए जिससे देश और दुनिया का भला हो सके।    प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत ने समय रहते कदम उठाए जिसके चलते वह विश्व के अनेक सामर्थ्यवान देशों की तुलना में काफी संभली हुई स्थिति में है। जब देश में एक भी कोरोना का मरीज नहीं था तभी से हमने एयरपोर्ट पर जांच का काम शुरू कर दिया था। इसके बाद बाहर से आए लोगों का क्वारंटाइन आवश्यक करने से लेकर समय रहते  21 दिनों का लॉकडाउन जैसा कठोर कदम उठाने के चलते ही हम संकट को काफी हद तक कम कर पाए हैं। विश्व भर में कोरोना से जैसा प्रकोप दिखाया है, उसकी भारत में कल्पना करने से ही रोंगटे खड़े हो जाते हैं।   प्रधानमंत्री ने कहा कि समय पर तेज फैसले और एकीकृत निर्णय लेने की प्रक्रिया से ही देश कोरोना से काफी हद तक बचा रहा है। प्रधानमंत्री ने कहा कि समाजिक दूरी बनाने और लॉकडाउन की बहुत बड़ी  आर्थिक कीमत चुकानी पड़ी है लेकिन यह देशवासियों की जिदंगी से ज्यादा नहीं है। दुनियाभर में भारत के प्रयासों की प्रशंसा हो रही है। प्रधानमंत्री ने राज्य सरकारों और स्वयंसेवी संस्थाओं के कार्यों की प्रशंसा की।    प्रधानमंत्री ने अपने भाषण के दौरान पहले गमछे से मुंह को ढका हुआ था हालांकि भाषण देते हुए उन्होंने इसे उतार दिया। लोगों को भी इसी तरह से अपने मुंह और नाक को ढकने की अपील की।    अपने संबोधन की शुरूआत में ही संविधान निर्माता डॉ भीमराव अम्बेडकर को याद करते हुए उन्होंने कहा कि देश संविधान की प्रस्तावना में ‘हम भारत के लोग’ इस भावना को आगे ले जा रहे हैं और मिलकर परेशानियों के बावजूद संघर्ष कर रहे हैं। उन्होंने देश में त्यौहारों और नववर्ष की शुरुआत की बधाई देते हुए लोगों के घर में रहकर त्यौहार बनाने को प्रेरक और प्रशंसनीय बताया। उन्होंने लोगों के उत्तम स्वास्थ्य की कामना की।    प्रधानमंत्री ने अपने भाषण के अंत में लोगों से सात बातों का विशेष ध्यान रखने की अपील की। उन्होंने कहा कि बुजुर्गों और बीमार लोगों का खास ध्यान रखा जाए, समाजिक दूरी का पालन करते हुए मास्क का प्रयोग करें, खुद की रोक प्रतिरोधक क्षमता को लगातार बढ़ाने के लिए आयुष मंत्रालय के सुझावों का पालन करें, आरोग्य सेतु ऐप डाउनलोड करें और दूसरों से भी करायें, गरीबों की देख-रेख करें, अपने कर्मचारियों का ख्याल रखें और उन्हें नौकरी से न निकालें और कोरोना के खिलाफ लड़ाई कर रहे स्वास्थ्य कर्मियों और पुलिसकर्मियों का सम्मान करें।   

Dakhal News

Dakhal News 14 April 2020


bhopal, Kamal Nath ,delays fighting , Corona ,quest ,forming government

नई दिल्ली। कांग्रेस ने कोविड-19 (कोरोना वायरस) महामारी से निपटने की दिशा में केंद्र सरकार पर देरी से योजना बनाकर प्रयास शुरू करने का आरोप लगाया है। विपक्षी पार्टी ने कहा कि राहुल गांधी ने 12 फरवरी को ही वायरस को लेकर चेताया था लेकिन तब केंद्र मध्य प्रदेश में सरकार को गिराने और बनाने में व्यस्थ थी। इसका नतीजा यह रहा है कि कोरोना के खिलाफ लड़ाई देर से शुरू हो सकी और करीब 40 दिन बाद सुरक्षात्मक कदम के तौर पर देशभर में लॉकडाउन घोषित किया गया।   कांग्रेस नेता एवं मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने रविवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से पत्रकारों को संबोधित करते हुए कहा कि आज दुनिया कोरोना की गंभीर महामारी की चपेट में है। दुनिया के सभी देश इससे निपटने के लिए अपने-अपने स्तर पर प्रयास कर रहे हैं। ऐसे में भारत में इस वायरस के खिलाफ लड़ाई में कांग्रेस पार्टी पूरी तरह से केंद्र सरकार के साथ है। उन्होंने कहा कि प्रमुख विपक्षी पार्टी होने के नाते कांग्रेस को अपनी जिम्मेदारी का अहसास है, इसलिए जनता की भलाई को लेकर वह सरकार की हरसंभव मदद कर रही है और कुछ जगहों पर जब सरकार के फैसले गलत होते हैं तो उन्हें टोकती भी है।   इस दौरान कमलनाथ ने मध्य प्रदेश सरकार की मंशा पर भी सवाल उठाया। उन्होंने कहा कि कोविड-19 के खिलाफ सभी राज्य लगातार कोशिशों में लगे हैं, वहीं मध्यप्रदेश एकमात्र ऐसा राज्य है जहां न तो स्वास्थ मंत्री है और न ही गृहमंत्री। कोरोना जैसी समस्या से निपटने के लिए जिस शिवराज सरकार के पास पर्याप्त मंत्रिमंडल ही नहीं है, वह किस प्रकार की योजना बनाएंगे।   कांग्रेस नेता ने कहा कि इस महामारी को हराने के लिए सबसे अहम है कि ज्यादा से ज्यादा टेस्टिंग की जाए ताकि इस वायरस के संक्रमण को फैलने से रोकने का काम पूर्ण हो सके। लेकिन हकीकत यह है कि मध्य प्रदेश में केवल शहरी क्षेत्र में ही टेस्टिंग हो रही है, जबकि ग्रामीण इलाकों में तो परीक्षण की संख्या ना के बराबर है। आंकड़ों के मुताबिक राज्य में टेस्टिंग की स्थिति प्रति दस लाख पर कुछ गिने-चुने लोगों की ही टेस्टिंग हो रही है। उस पर राज्य में सुरक्षा उपकरणों की भी काफी कमी है। यहां तक कि अस्पतालों में चिकिस्तकीय टीम के पास भी पर्याप्त पर्सनल प्रोटेक्शन इक्विपमेंट नहीं हैं।

Dakhal News

Dakhal News 12 April 2020


bhopal, Chief Minister ,Shivraj Singh Chauhan, may soon constitute cabinet

भोपाल। मध्यप्रदेश की चौथी बार कमान संभाल रहे मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान अब अपने मंत्रिमंडल का गठन करने जा रहे हैं। राजनीतिक हलकों में चर्चा जोरों पर है कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान 15 अप्रैल तक मंत्रिमंडल का गठन कर सकते हैं। दरअसल, लॉकडाउन के प्रथम चरण के 21 दिन पूरे होने वाले हैं और द्वितीय चरण के लिए आम सहमति बन गई है। ऐसे में समझा जा रहा है कि सीएम मंत्रिमंडल का गठन कर देंगे।    जानकारी के अनुसार, शिवराज पहले चरण में लगभग 25 से 28 लोगों को मंत्री बना सकते हैं। इन मंत्रियों को कोरोना वायरस संक्रमित जिलों की जिम्मेदारी भी सौंपी जा सकती है और वही जाकर कोरोना की स्थिति पर नियंत्रण करने के लिए कहा जा सकता हैं।    उल्लेखनीय है कि 23 मार्च को शिवराज सिंह ने अकेले शपथ ली थी और तब से अब तक वो अकेले ही सरकार चला रहे हैं। इधर, भाजपा के सत्ता में आने के बाद से ही कांग्रेस लगातार मंत्रिमंडल गठन को लेकर सवाल उठा रही हैं। शिवराज सरकार के खिलाफ कांग्रेस ने मोर्चा खोल रखा है, आए दिन मंत्रिमंडल विस्तार को लेकर सवाल खड़े किए जा रहे हैं। ऐसे में लगातार बढ़ते दवाब के चलते मंत्रिमंडल का विस्तार होने की संभावना जताई जा रही हैं। माना जा रहा है शिवराज 15 अप्रैल तक विस्तार कर सकते हैं। इसके अलावा 15 अप्रैल से मध्यप्रदेश में गेहूं की खरीदी भी शुरू होने वाली है और ऐसे में जनप्रतिनिधियों का सक्रिय होना बेहद जरूरी हैं।    इन्हें मिल सकती है जगह    शिवराज मंत्रिमंडल में पहले दस स्थान सिंधिया समर्थक विधायकों के लिए तय है, जिनमें प्रभुराम चौधरी, तुलसीराम सिलावट, गोविंद सिंह राजपूत, इमरती देवी आदि शामिल है। इसके अलावा बिसाहूलाल सिंह, एन्दल सिंह कंसाना और हरदीप सिंह डंग का मंत्री बनना भी तय है। शेष बचे 20 स्थानों पर भाजपा अपने कई कद्दावर नेताओं के लिए जिसमें नरोत्तम मिश्रा, गोपाल भार्गव, भूपेन्द्र सिंह, रामपाल सिंह, सीताशरण शर्मा, कुंवर विजय शह, जगदीश देवड़ा आदि नेताओं के लिए सुरक्षित रखे है।   

Dakhal News

Dakhal News 12 April 2020


bhopal, Three more deaths, Madhya Pradesh, 43 people, have died ,indore

भोपाल/इंदौर। मध्यप्रदेश में कोरोना का कहर जारी है। यहां कोरोना संक्रमित तीन और मरीजों की मौत की पुष्टि हुई है। इंदौर में शनिवार देर रात दो कोरोना पॉजिटिव मरीजों की मौत हो गई, जबकि राजधानी भोपाल में शनिवार देर रात मृतक की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई है। इन तीन मौतों के साथ मध्यप्रदेश में कोरोना से मरने वालों की संख्या अब 43 पहुंच गई है। इंदौर मेडिकल कॉलेज द्वारा रविवार सुबह जारी बुलेटिन में बताया गया कि शनिवार देर रात कोरोना से संक्रमित दो मरीजों की मौत हो गई। मृतकों में एक 65 वर्षीय सोमनाथ की चाल निवासी और दूसरा 70 वर्षीय मोतीतबेला निवासी मरीज शामिल है। इंदौर सीएमएचओ डॉ प्रवीण जडिय़ा ने इसकी पुष्टि की है। उन्होंने बताया कि दोनों मृतकों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। इसके साथ ही इंदौर में कोरोना से मरने वालों की संख्या 32 हो गई है। भोपाल में जहांगीराबाद निवासी 77 वर्षीय बुजुर्ग को तबियत खराब होने के बाद गत आठ अप्रैल को कस्तूरबा अस्पताल में भर्ती किया गया था, जहां से गंभीर हालत में उन्हें नर्मदा अस्पताल रेफर किया गया, लेकिन कोरोना जांच के लिए उन्हें चिरायु अस्पताल भेजा गया, जहां सैम्पल लेने के बाद उन्हें हमीदिया अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में भर्ती किया गया, जहां आठ अप्रैल की रात में ही उनकी मौत हो गई। शनिवार को देर रात उनकी जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। भोपाल में यह कोरोना से दूसरी मौत है। इससे पहले भोपाल में पांच-छह अप्रैल की दरमियानी रात इब्राहिमगंज निवासी एक व्यक्ति की कोरोना से मौत हो गई थी। इसके साथ ही मध्यप्रदेश में अब कोरोना से मरने वालों की संख्या 43 हो गई है। मृतकों में इंदौर 32, उज्जैन 05, भोपाल 02, खरगौन 02, छिंदवाड़ा 01 तथा देवास 01 मरीज शामिल हैं।

Dakhal News

Dakhal News 12 April 2020


bhopal, Three more deaths, Madhya Pradesh, 43 people, have died ,indore

भोपाल/इंदौर। मध्यप्रदेश में कोरोना का कहर जारी है। यहां कोरोना संक्रमित तीन और मरीजों की मौत की पुष्टि हुई है। इंदौर में शनिवार देर रात दो कोरोना पॉजिटिव मरीजों की मौत हो गई, जबकि राजधानी भोपाल में शनिवार देर रात मृतक की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई है। इन तीन मौतों के साथ मध्यप्रदेश में कोरोना से मरने वालों की संख्या अब 43 पहुंच गई है। इंदौर मेडिकल कॉलेज द्वारा रविवार सुबह जारी बुलेटिन में बताया गया कि शनिवार देर रात कोरोना से संक्रमित दो मरीजों की मौत हो गई। मृतकों में एक 65 वर्षीय सोमनाथ की चाल निवासी और दूसरा 70 वर्षीय मोतीतबेला निवासी मरीज शामिल है। इंदौर सीएमएचओ डॉ प्रवीण जडिय़ा ने इसकी पुष्टि की है। उन्होंने बताया कि दोनों मृतकों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। इसके साथ ही इंदौर में कोरोना से मरने वालों की संख्या 32 हो गई है। भोपाल में जहांगीराबाद निवासी 77 वर्षीय बुजुर्ग को तबियत खराब होने के बाद गत आठ अप्रैल को कस्तूरबा अस्पताल में भर्ती किया गया था, जहां से गंभीर हालत में उन्हें नर्मदा अस्पताल रेफर किया गया, लेकिन कोरोना जांच के लिए उन्हें चिरायु अस्पताल भेजा गया, जहां सैम्पल लेने के बाद उन्हें हमीदिया अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में भर्ती किया गया, जहां आठ अप्रैल की रात में ही उनकी मौत हो गई। शनिवार को देर रात उनकी जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। भोपाल में यह कोरोना से दूसरी मौत है। इससे पहले भोपाल में पांच-छह अप्रैल की दरमियानी रात इब्राहिमगंज निवासी एक व्यक्ति की कोरोना से मौत हो गई थी। इसके साथ ही मध्यप्रदेश में अब कोरोना से मरने वालों की संख्या 43 हो गई है। मृतकों में इंदौर 32, उज्जैन 05, भोपाल 02, खरगौन 02, छिंदवाड़ा 01 तथा देवास 01 मरीज शामिल हैं।

Dakhal News

Dakhal News 12 April 2020


bhopal, CM expresses, grief over the demise , Prakash Puri Maharaj, former Mahantarvani Akhara

भोपाल/उज्जैन। उज्जैन के विश्व प्रसिद्ध महाकालेश्वर मंदिर परिसर स्थित पंचायती महानिर्वाणी अखाड़े के पूर्व महंत प्रकाश पुरी महाराज का शुक्रवार अलसुबह देवलोक गमन हो गया। उन्होंने सुबह साढ़े तीन बजे अंतिम सांस ली। उनके निधन पर प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शोक व्यक्त किया है। गौरतलब है कि प्रकाश पुरी महाराज करीब 40 वर्षों तक यहां महंत के रूप में पदस्थ रहे और प्रतिदिन भगवान महाकाल को भस्म चढ़ाई की परम्परा का निर्वाह करते रहे। हाल ही में वे हरियाणा के कलावड़ स्थित मठ में गए थे और वहीं रहकर विश्राम कर रहे थे। वे लम्बे समय से अस्वस्थ थे। शुक्रवार को उनका निधन हो गया। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सोशल मीडिया के माध्यम से उनके निधन पर शोक व्यक्त किया है। उन्होंने ट्वीट किया है कि ‘उज्जैन के श्री महाकालेश्वर मंदिर को भस्म अर्पित करने वाले पंचायती महानिर्वाणी अखाड़े के महंत श्री प्रकाश पुरी महाराज के ब्रह्मलीन होने की सूचना मिली। ईश्वर से प्रार्थना है कि वे दिवंगत आत्मा को अपने श्रीचरणों में स्थान दें और उनके शिष्यों व अनुयायियों को इस कठिन घड़ी में संबल दें।’ वहीं, प्रकाश पुरी महाराज का देवलोक गमन होने से उज्जैन के साधु-संत और अखाड़ों से जुड़े महंत ने शोक संवेदना व्यक्त की है। गौरतलब है कि महंत प्रकाश पुरी महाराज वर्ष 1980 में गीता भारती जी की उपस्थिति में उज्जैन स्थित महानिर्वाणी अखाड़े के महंत नियुक्त हुए थे। उन्होंने पिछले दिनों अपनी अस्वस्था के चलते मंदिर समिति के प्रशासक एसएस रावत को अपनी सारी जिम्मेदारियां और पूजा-पाठ की समस्त जवाबदारियों तथा आश्रम सौंप दिया था और वे हरियाणा के अपने निजी आश्रम में विश्राम के लिए चले गए थे। उसके बाद महंत पद को लेकर कई लोगों ने दावेदारी जताई, लेकिन हरिद्वार में आयोजित पंचों की बैठक बाद हरियाणा के विनीत गिरि महाराज को यहां का महंत घोषित कर गद्दी पर आसीन किया गया।

Dakhal News

Dakhal News 10 April 2020


bhopal, 31 new positives ,corona found ,Madhya Pradesh

भोपाल। मध्यप्रदेश में कोरोना संक्रमित मरीजों का आंकड़ा तेजी से बढ़ता जा रहा है। प्रदेश में गुरुवार देर रात आई रिपोर्ट में कोरोना के 31 नये पॉजिटिव मरीज मिले हैं, जिनमें राजधानी भोपाल में कोरोना के 14, बड़वानी और खरगोन में दो-दो, विदिशा में पांच, गंजबासौदा में चार तथा सागर, उज्जैन, लटेरी और सिरोंज में एक-एक मरीज शामिल है। गुरुवार शाम तक कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 411 थी, जो अब बढक़र 442 पर पहुंच गई है। वहीं, इनमें से अब तक प्रदेश में 33 लोगों की मौत हो चुकी है। भोपाल में 14 नये कोरोना पॉजिटिव मरीजों की पुष्टि होने के बाद यहां कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या बढक़र 112 हो गई है। इनमें गांधी मेडिकल कॉलेज की दो जूनियर डॉक्टर कोरोना से पॉजीटिव पाई गई है। दोनों पॉजीटिव जूनियर डॉक्टर पीएसएम और स्त्री रोग विभाग में कार्यरत हैं। मरीजों की संख्या बढऩे के चलते भोपाल को पूरी तरह से सील कर दिया गया है। मध्यप्रदेश में नये 31 पॉजिटिव मिलने के बाद कोरोना संक्रमित मरीजों की कुल संख्या 442 हो गई है। इनमें इंदौर में सबसे अधिक 221, भोपाल में 112, जबलपुर 09, ग्वालियर 06, शिवपुरी 02, उज्जैन 16, खरगौन 14, मुरैना 13, छिंदवाड़ा 02, बड़वानी 14, बैतूल 01, विदिशा 13, श्योपुर 01, होशंगाबाद 06, खंडवा 05, रायसेन 01, देवास 03, धार 01, सागर 01 तथा अन्य राज्य का एक मरीज शामिल है। वहीं, प्रदेश में अब तक कोरोना से 33 मरीजों की मौत हो चुकी है। इनमें इंदौर में सबसे अधिक 23, उज्जैन 05, भोपाल 01, खरगौन 02, छिंदवाड़ा 01 तथा देवास का 01 मरीज शामिल है।

Dakhal News

Dakhal News 10 April 2020


bhopal, CM Shivraj ,asked former chief ministers , state to tackle,Corona crisis

भोपाल। मध्य प्रदेश में कोरोना संकट पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान सतत नजर बनाए हुए है। सीएम शिवराज लगातार बैठकें कर अधिकारियों को कोरोना वायरस से निपटने के निर्देश दे रहे है और साथ ही जनता से इस वैश्विक महामारी को हराने में सहयोग की अपील कर रहे है। वहीं अब मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्रियों को फोन कर उनसे कोरोना संकट से निपटने का सहयोग और सुझाव मांगा है।    मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शुक्रवार को प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह, उमा भारती और कमलनाथ से फोन पर की चर्चा। सीएम शिवराज सिंह चौहान ने पूर्व मुख्यमंत्रियों को कोरोना संक्रमण की स्थिति और प्रदेश सरकार के प्रयासों से अवगत कराया। इसके साथ ही कोरोना संकट से निपटने के लिए शिवराज सिंह चौहान ने दिग्विजय सिंह, उमा भारती और कमलनाथ से सुझाव और सहयोग मांगा है। इसके अलावा मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान शुक्रवार शाम को कर्मचारियों और अधिकारियों से चर्चा करेंगे। सीएम शिवराज सिंह चौहान कोरोना वायरस के संक्रमण को लेकर बैठक करेंगे। शाम साढ़े 4 बजे मंत्रालय में ये बैठक आयोजित है। बैठक में कोरोना वायरस पर नियंत्रण विषय पर चर्चा होने की संभावना है, इस बैठक में कौन- कौन शामिल होगा, इसके विस्तृत ब्यौरे की प्रतीक्षा है। बता दें कि सीएम शिवराज लगातार बैठक कर स्थिति को नियंत्रण में रखने की कोशिश कर रहे हैं।  

Dakhal News

Dakhal News 10 April 2020


bhopal, Attack on police,following lockdown

भोपाल। मध्य प्रदेश में कोरोना संक्रमण के मामले तेजी से बढ़ रहे है। प्रदेश में अब तक कोरोना मरीजों का आंकड़ा 263 पर पहुंच गया है। जबकि 19 लोग इस महामारी का शिकार बन कर अपनी जान गंवा चुके हैं। इंदौर के बाद अब भोपाल में भी यह तेजी से फैल रहा है। ऐसे में कोरोना के बढ़ते मामले को देखते हुए भोपाल कलेक्टर तरुण पिथोड़े के आदेश पर भोपाल में 9 अप्रैल तक पूरी तरह से कर्फ्यू लगा दिया गया है। साथ ही लोगों को घर के बाहर नहीं निकलने की हिदायत दी जा रही है, लेकिन लोग इसका पालन नहीं कर रहे है। समझाइश देने पर पुलिस और स्वास्थ्य विभाग के साथ अनुचित व्यवहार कर रहे है। इंदौर के टाटपट्टी बाखल में डाक्टरों के साथ हुए दुव्र्यवहार के बाद अब भोपाल में पुलिस पर हमला हुआ है। बदमाशों के हमले से पुलिस के दो जवान घायल हो गए है।    जानकारी अनुसार पुलिस पर हमले की घटना राजधानी भोपाल के पुराने शहर के तलैया थाना स्थित इतवारा इलाके में सोमवार देर रात को हुई। तलैया थाना प्रभारी डीपी सिंह के अनुसार रात करीब 11 बजे इतवारा इलाके के रसीदिया स्कूल के पीछे शामद मस्जिद के पास विशेष वर्ग के करीब 20 युवक एक साथ घूम रहे थे। पुलिस ने उन्हें समझाया और उन्हें घर जाने को कहा तो भीड़ में शामिल शातिर बदमाश शाहिद कबूतर, मोहसिन कचौड़ी और उनके दोस्तों ने पुलिस पर चाकू से हमला कर पथराव कर दिया।    हमले में सिपाही लक्ष्मण यादव के बाएं कंधे और सतीश कुमार के बाएं हाथ में चाकू लगा है। पुलिस पर हमला कर बदमाश मौके से फरार हो गए। पुलिस पर हमले की सूचना मिलते ही अफसर मौके पर पहुंच गए। पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ हत्या के प्रयास और शासकीय कार्य में बाधा डालने का मामला दर्ज किया है। घटना के बाद इलाके में भारी पुलिस बल तैनात कर दी गई है। पुलिस आरोपियों की तलाश कर रही है। बतातें चले कि इससे पहले बुधवारा इलाके में लॉकडाउन का पालन कराने गई टीम पर पानी डालने की घटना हो चुकी है।    मुख्यमंत्री बोले, किसी को नहीं बख्शा जाएगा इस आपराधिक मामले में मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सख्त कार्रवाई के निर्देश दिए हैं। आरोपियों पर राष्ट्रीय सुरक्षा अधिनियम के तहत कार्रवाई की जा सकती है। गुरुवार सुबह मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट कर लिखा ‘दिन-रात एक कर जनता को इस महामारी से बचाने में लगे पुलिसकर्मियों पर हमला बर्दाश्त नहीं किया जाएगा! "कबूतर" हो या "कचौड़ी", किसी को बख्शा नहीं जाएगा! अराजकता फैलाने वाले गुंडे-बदमाशों को सबक सिखाना अतिआवश्यक है! इन गुंडों पर राष्ट्रीय सुरक्षा कानून के तहत कार्रवाई की जाएगी!  

Dakhal News

Dakhal News 7 April 2020


bhopal, While treating corona, health department , 29 reported positive

भोपाल। मध्यप्रदेश में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। वहीं, कोरोना के मरीजों का उपचार करते-करते स्वास्थ्य विभाग का अमला खुद कोरोना संक्रमित होने लगा है। मंगलवार को भोपाल में कोरोना संक्रमित 12 नये मामले सामने आए हैं। इनमें पांच स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी-कर्मचारी पॉजीटिव पाये हैं। इसके अवाला अन्य कोरोना संक्रमित मरीजों में सात पुलिसकर्मी और उनके परिवार के सदस्य हैं। इन्हें मिलाकर भोपाल में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 74 पहुंच गई है। इनमें 29 स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी-कर्मचारी और 14 पुलिसकर्मी व उनके परिजन भी शामिल हैं।  भोपाल के मुख्य चिकित्सा और स्वास्थ्य अधिकारी सुधीर कुमार डेहरिया ने बताया कि मंगलवार सुबह 12 संक्रमित व्यक्तियों की सेम्पल रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। इनमें से पांच स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी और सात मरीज पुलिस और उनके परिवार के लोग हैं। स्वास्थ्य विभाग से पॉजीटिव आने वालों में महेंद्र मर्सकोले, सौरभ श्रीवास्तव, सुनील यादव, अशोक कुमार और धर्मेंद्र कुशवाह शामिल हैं, जबकि शेष सात  पुलिसकर्मी और उनके परिवार के सदस्य हैं। इससे पहले स्वास्थ्य विभाग के जो अधिकारी-कर्मचारी कोरोना संक्रमित पाए गए हैं, उनमें स्वास्थ्य संचालक आईएएस डॉ. जे. विजय कुमार, उनके गनमैन कमलेश, प्रमुख सचिव आईएएस पल्लवी जैन, अपर संचालक डॉ. वीणा सिन्हा, विश फाउण्डेशन के एडवाइजर नरेंद्र जायसवाल, आईडीएससी के उप संचालक प्रमोद गोयल, संयुक्त संचालक डॉ. उपेंद्र दुबे, उप संचालक डॉ. हिमांशु जायसवाल, कीट विज्ञानी डॉ. सत्येंद्र पांडे, एनवीबीसीडी के उप संचालक डॉ. सौरभ पुरोहित, अपर संचालक कैलाश बुंदेला, कम्प्यूटर आपरेटर विजय सिंह, आईटी अधिकारी सुनील मुकाती, एनएचएम में अनुबंधित डायरेक्टर रंजना गुप्ता, ब्लड ट्रांसफ्यूजन डायरेक्टर डॉ. रूबी खान, आईडीएसपी स्टेट एपिडिमोलॉजिस्ट डॉ. शाव्या सालम, संयुक्त संचालक राकेश मुंशी, चपरासी बलवंत सिंह, क्लर्क आलोक श्रीवास्तव, पीए दीपक देशमुख, क्लर्क अभिषेक सोनी, क्लर्क राजकुमार गर्ग, राजकुमार पांडे, गौरव पाल, राजेश सिंह, विजय सिंह जाटव, रोहिणी जायसवाल, एनएचएम ऋषिराज सिंह शामिल हैं।इसके अलावा सात पुलिसकर्मी सोमवार को कोरोना संक्रमित पाए गए थे और तीन पुलिसकर्मियों और चार उनके परिजनों की रिपोर्ट मंगलवार को पॉजीटिव आई है। यानी अब तक कोरोना संक्रमण की रोकथाम के ड्यूटी कर रहे 10 पुलिसकर्मी और चार उनके परिजन कोरोना संक्रमित हो चुके हैं। भोपाल की बात करें तो यहां कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 74 पहुंच चुकी है, जिनमें से एक की मौत हो चुकी है। वहीं, दो लोग स्वस्थ होकर अपने घर भी पहुंच गए हैं। स्वस्थ होने वाले वालों में पत्रकार केके सक्सेना और उनकी बेटी गुंजन शामिल हैं।

Dakhal News

Dakhal News 7 April 2020


bhopal, Seven policemen, infected, 23 officers , Health Department

भोपाल। मध्यप्रदेश में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। सोमवार को देर रात इंदौर के एमजीएम मेडिकल कॉलेज द्वारा जारी की गई रिपोर्ट में 15 नये कोरोना पॉजीटिव मरीजों की पुष्टि हुई है। इसके साथ ही इंदौर में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 151 पर पहुंच गई है। इसके साथ ही मध्यप्रदेश में कोरोना संक्रमित मरीजों की आंकड़ा 263 पर पहुंच गया है। भोपाल में सोमवार को देर शाम तक 22 कोरोना संक्रमित मरीज मिले हैं, जिनमें अधिकांश स्वास्थ्य और पुलिस विभाग के अधिकारी-कर्मचारी शामिल हैं। भोपाल में कोरोना संक्रमित मरीजों का आंकड़ा 63 पहुंच गया है। इनमें 23 स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी-कर्मचारी और सात पुलिसकर्मी भी शामिल हैं। इंदौर के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. प्रवीण जडिय़ा ने बताया कि सोमवार को एमजीएम मेडिकल कॉलेज से जारी रिपोर्ट में 16 मरीजों में संक्रमण की पुष्टि हुई है। नए मरीजों में दाऊदी नगर खजराना से 13 साल का एक बच्चा भी शामिल है, जबकि एमवाय अस्पताल की एक नर्स भी पॉजिटिव आई है। सोमवार को आई रिपोर्ट के अनुसार जिन चार लोगों की मौत की पुष्टि कोरोना से हुई है, उनमें से तीन की मौत रिपोर्ट आने के पहले हो चुकी थी। इस प्रकार अब तक इंदौर में कोरोना से 13 लोगों की मौत हो चुकी है। वहीं, भोपाल के मुख्य चिकित्सा और स्वास्थ्य अधिकारी सुधीर कुमार डेहरिया ने बताया कि सोमवार को देर शाम तक भोपाल में प्राप्त जांच रिपोर्ट में 22 कोरोना पॉजिटिव मिले हैं। इनमें अधिकांश पॉजीटिव मरीज स्वास्थ्य एवं पुलिस विभाग के हैं। भोपाल में अब तक कोरोना संक्रमित मरीजों का आंकड़ा 63 पहुंच गया है। मध्यप्रदेश में मंगलवार सुबह तक कोरोना संक्रमित मरीजों का कुल आंकड़ा 263 पर पहुंच गया है। इनमें इंदौर में 151, भोपाल में 63, मुरैना में 12, जबलपुर में 8, बड़वानी में 3, उज्जैन में 11, खरगौन में चार तथा ग्वालियर, शिवपुरी और छिंदवाड़ा के दो-दो, विदिशा में एक, बैतूल में एक तथा अन्य एक संक्रमित मरीज शामिल हैं। इधर, प्रदेश में कोरोना संक्रमित कुछ मरीज ठीक भी होने लगे हैं। वहीं, प्रदेश में कोरोना से मरने वालों की संख्या 19 पहुंच गई है। मृतकों में इंदौर के 13, उज्जैन से तीन और भोपाल, छिंदवाड़ा व खरगौन के एक-एक मरीज शामिल हैं। 

Dakhal News

Dakhal News 7 April 2020


bhopal, Three patients died ,corona, Madhya Pradesh

भोपाल। मध्यप्रदेश में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़ने के साथ ही इस बीमारी से मरने वालों की संख्या भी तेजी से बढ़ रही है। प्रदेश में अब तक कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 161 पहुंच गई है, जिनमें से अब तक 11 लोगों की मौतें हो चुकी हैं। इनमें से तीन कोरोना संक्रमित मरीजों की मौत शनिवार को हुई है। मृतकों में इंदौर के दो मरीज और छिंदवाड़ा का एक मरीज शामिल है। इंदौर में एमआर टीबी अस्तपाल में भर्ती 42 वर्षीय पुरुष और 80 वर्षीय महिला की मौत हुई है, जबकि छिंदवाड़ा में कोरोना पॉजिटिव एक युवक ने इलाज के दौरान दम तोड़ दिया। इन तीनों मौतों के साथ  मध्यप्रदेश में अब कोरोना से मौतों का आंकड़ा बढक़र 11 हो गया है। इंदौर के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. प्रवीण जडिय़ा ने बताया कि शनिवार को सुबह इंदौर के चन्दननगर नगर में रहने वाली 80 वर्ष की महिला सकीना और 42 वर्षीय जावेद निवासी हाथीपाला की मौत हो गई है, जिसके बाद इंदौर में कोरोना से मरने वालों की संख्या वालों की संख्या सात हो गई है। इसी प्रकार छिंदवाड़ा जिले में भी शनिवार सुबह एक कोरोना पॉजिटिव मरीज की मौत हो गई। यहां जिस कोरोना संक्रमित युवक की मौत हुई है, वह इंदौर में वाणिज्य कर विभाग में लिपिक था। वह 20 को ही इंदौर से अपने गांव केवलारी आया था। आईजी भागवत सिंह चौहान ने उसकी मौत की पुष्टि करते हुए बताया कि उसकी पत्नी, मां, बच्चे अभी इंदौर में ही है और उनको जानकारी भेज दी गई है। वहीं, मृतक के पिता भी कोरोना पॉजिटिव हैं, जबकि बुआ, चाची और बहनों को क्वारेंटाइन में रखा गया है।इसके साथ ही मध्यप्रदेश में कोरोना संक्रमित मरीजों की मौत का आंकड़ा 11 पहुंच गया है। इससे पहले इंदौर में पांच, उज्जैन में दो और खरगौन के एक कोरोना संक्रमित मरीजों की मौत हो चुकी है। अब इंदौर में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या सात हो गई है। वहीं, मध्यप्रदेश में शुक्रवार को देर रात तक कोरोना के 41 नए मरीज मिले हैं। इनमें सबसे ज्यादा इंदौर में 23, मुरैना में 10, भोपाल में छह तथा उज्जैन और जबलपुर में एक-एक कोरोना पॉजिटिव शामिल हैं। इन्हें मिलाकर मध्यप्रदेश में कोरोना संक्रमित मरीजों का आंकड़ा 161 पहुंच गया है। इनमें इंदौर में 115, मुरैना 12, भोपाल 15, जबलपुर 8, उज्जैन 7, ग्वालियर-शिवपुरी 2-2 और खरगौन-छिंदवाड़ा में एक-एक मरीज शामिल हैं। इनमें से अब तक कुल 11 लोगों की मौत हो चुकी है, जिनमें इंदौर में सात, उज्जैन में दो तथा खरगौन व छिंदवाड़ा के एक-एक मरीज शामिल हैं।

Dakhal News

Dakhal News 4 April 2020


bhopal, 126 employees ,sent on leave ,after Health Corporation MD, Corona positive

भोपाल। राजधानी भोपाल में 2011 बैच के आईएएस अधिकारी और हेल्थ कॉर्पोरेशन के एमडी जे. विजय कुमार की दूसरी रिपोर्ट भी कोरोना पॉजिटिव आने के बाद हडक़ंप मच गया है। इसके बाद कोरोना कोर ग्रुप के 12 आईएएस अधिकारी होम क्वारैंटाइन हो गए हैं। वहीं सावधानी बरतते हुए सतपुड़ा भवन स्थित कंट्रोल रूम के 126 कर्मचारियों को छुट्टी दे दी गई है। शुक्रवार देर को फोन लगाकर कर्मचारियों को छुट्टी की जानकारी दी गई। कर्मचारियों को कहा गया कि शनिवार को दफ्तर ना आएं। वहीं नगर निगम द्वारा सतपुड़ा भवन का चतुर्थ, पंचम और 6वीं फ्लोर सेनिटाईज किया गया है।    आईएएस जे. विजय कुमार में कोरोना संक्रमण की पुष्टि होने के बाद स्वास्थ्य संचालनालय के 300 से अधिक अफसर-कर्मचारियों पर कोरोना का खतरा मंडरा रहा है। ऐसे में वह लोग जो कि विजय कुमार के सीधे संपर्क में थे या उनके साथ बैठकों में शामिल रहे, इन सभी के सैंपल लिए जा रहे हैं। चूंकि विजय कुमार स्वास्थ्य विभाग, हेल्थ कॉर्पोरेशन और स्वास्थ्य मिशन भी आते-जाते रहे, लिहाजा 150 लोगों की सूची बनी है, जिनकी निगरानी होगी। इस बीच विजय कुमार को एक निजी अस्पताल से एम्स भोपाल शिफ्ट कर दिया गया है। बताया जा रहा है कि उन्होंने शासन को आईएएस व अन्य अधिकारियों की लिस्ट दी है।   कई आईएएस अधिकारी क्वारैंटाइन में आईएएस जे विजय कुमार के कोरोना पॉजिटिव होने की पुष्टि के बाद मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव फैज अहमद किदवई ने खुद को लेक व्यू अशोका होटल में क्वारेंटाइन किया है। इसके अलावा निशांत बरवड़े व एस धनराजू एनएचडीसी के और पल्लवी जैन गोविल व सुदाम पी खाड़े प्रशासन अकादमी के गेस्ट हाउस में चले गए हैं। इनके परिवार घर पर क्वारेंटाइन हैं। सभी अफसरों ने परिवार से फिलहाल दूरी बनाई है। प्रतीक हजेला भी घर पर हैं। बैठकों में अपर मुख्य सचिव मोहम्मद सुलेमान, प्रमुख सचिव संजय शुक्ला व संजय दुबे और स्वाति मीणा नायक भी रहे। ये सभी अपने घर पर हैं। हालांकि अभी सभी के कोरोना सेंपल लिए जा रहे हैं।  

Dakhal News

Dakhal News 4 April 2020


bhopal,Kamal Nath, again wrote letter ,Shivraj, demanding, start buying crop.

भोपाल। मध्यप्रदेश में इन दिनों कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौरान को लगातार पत्र लिखकर विभिन्न मांगें कर रहे हैं। अब पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने फिर से मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को पत्र लिखा है, जिसमें उन्होंने मांग की है कि समर्थन मूल्य पर फसल उपार्जन की प्रक्रिया शीघ्र शुरू की जाए, ताकि किसानों की आजीविका का सुनिश्चित किया जा सके।  दरअसल, राज्य सरकार द्वारा समर्थन मूल्य पर गेहूं उपार्जन की प्रक्रिया को फिलहाल आगामी आदेश तक स्थगित कर दिया गया है। इसे लेकर पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ शनिवार को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को पत्र लिखा है। उन्होंने पत्र में लिखा है कि हम सभी को ज्ञात है कि एक भयावह महामारी कोरोना से समूची दुनिया संघर्षरत है। मध्यप्रदेश में भी इस महामारी का व्यापक प्रभाव है, परन्तु जितना इस महामारी की विभीषिका से लडऩा जरूरी है, उतना ही जरूरी हमारे किसान भाइयों की आजीविका के लिए सार्थक कार्य करना भी जरूरी है। रबी की फसलों की समर्थन मूल्य पर खरीदी इस वर्ष 25 मार्च से से प्रारम्भ होनी थी, फिर इस तिथि को बढ़ाकर एक अप्रैल किया गया, लेकिन चार अप्रैल तक भी खरीदी की प्रक्रिया प्रारम्भ नहीं की गई है और न ही खरीदी की आगामी तिथि के लिए कोई आदेश जारी किया गया है।उन्होंने पत्र में लिखा है कि मप्र में लगभग 19 लाख 44 हजार किसानों ने समर्थन मूल्य पर अनाज विक्रय के लिए रजिस्ट्रेशन कराया है, जिसमें गेहूं, चना, मसूर, सरसो आदि फसलें शामिल हैं। इस समय किसानों की आजीविका गहरे संकट में है। अधिसंख्य किसानों की क्षमता इतनी नहीं है कि वे अपनी फसल काटकर गोदामों में रख पाएं और जिनती क्षमता है वे बड़े किसान भी परिवहन और मजदूरों की परेशानी का सामना कर रहे हैं। उन्होंने पत्र के माध्यम से अनुरोध किया है कि कोरोना महामारी की सावधानी के मापदंडों के साथ समर्थन मूल्य पर खरीद प्रक्रिया तत्काल प्रारम्भ की जाए। उन्होंने आश्वस्त किया है कि कांग्रेस के सभी कार्यकर्ता खरीद प्रक्रिया में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने के लिए उपलब्ध रहेंगे।

Dakhal News

Dakhal News 4 April 2020


bhopal, Eighth death ,corona, Madhya Pradesh, two people died

भोपाल/इंदौर। मध्यप्रदेश की आर्थिक राजधानी इंदौर में गुरुवार को कोरोना से संक्रमित दो लोगों की मौत हो गई। सुबह जहां कोरोना संक्रमित एक महिला की मौत हुई थी, वहीं दोपहर में एक अन्य कोरोना संक्रमित पुरुष ने भी दम तोड़ दिया। एमजीएम मेडिकल कॉलेज के अधिकारियों ने इसकी पुष्टि की है। इसके साथ ही इंदौर में कोरोना संक्रमण से मरने वालों की संख्या पांच हो गई है, जबकि जबकि मध्यप्रदेश में यह कोरोना से आठवीं मौत है। इंदौर के एमजीएम मेडिकल कॉलेज से मिली जानकारी के अनुसार, शहर के खजराना क्षेत्र में रहने वाली कोरोना संक्रमित 65 वर्षीय जेतून बी को 29 मार्च को इंदौर के एमआरटीबी हॉस्पिटल में भर्ती किया गया था, जहां गुरुवार को सुबह साढ़े नौ बजे उपचार के दौरान जेतून बी की मौत हो गई। वहीं, दोपहर में एमवाय अस्पताल में भर्ती 54 वर्षीय मरीज की भी मौत हो गई। वह मोती तबेला क्षेत्र का रहने वाला था। इस बात की पुष्टि एमजीएम मेडिकल कॉलेज के अधिकारियों ने की है। इंदौर में कोरोना से मौत का आंकड़ा पांच हो गया है। इससे पहले इंदौर में कोरोना संक्रमित तीन लोगों की मौत हो चुकी है। सीएमएचओ डॉ. प्रवीण जडिय़ा के अनुसार जो लोग पॉजिटिव मिल रहे हैं, उनमें से कई लोग पहले से ही भर्ती हैं, जिससे इनके कम्युनिटी में संक्रमण फैलाने के संभावना कम होगी।मप्र में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या पहुंची 98इंदौर में 12 नए कोरोना संक्रमित मरीज मिले हैं। बुधवार को देर रात स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी बुलेटिन में इसकी पुष्टि हुई है। इसके साथ ही इंदौर में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 75 और पूरे मध्यप्रदेश में अब तक कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या बढक़र 98 पहुंच गई है। इनमें इंदौर में 75, जबलपुर में आठ, भोपाल में चार, उज्जैन में छह, ग्वालियर में दो, शिवपुरी में दो और खरगौन के कोरोना पॉजीटिव मरीज शामिल हैं। इनमें से प्रदेश में अब तक आठ कोरोना संक्रमित मरीजों की मौत हो चुकी है। मरने वालों में पांच इंदौर, दो उज्जैन और एक खरगौन का मरीज शामिल है।

Dakhal News

Dakhal News 2 April 2020


indore,Seventh woman ,dies of corona,mp

इंदौर। मध्यप्रदेश की आर्थिक राजधानी इंदौर में गुरुवार को एक और कोरोना संक्रमित महिला की मौत हो गई। एमजीएम मेडिकल कॉलेज के अधिकारियों ने इसकी पुष्टि की है। इसके साथ ही इंदौर में कोरोना संक्रमण से मरने वालों की संख्या चार पहुंच गई है, जबकि मध्यप्रदेश में यह कोरोना से सातवीं मौत है। इंदौर के एमजीएम मेडिकल कॉलेज से मिली जानकारी के अनुसार, कोरोना संक्रमित 65 वर्षीय जेतून बी को 29 मार्च को इंदौर के एमआरटीबी हॉस्पिटल में भर्ती किया गया था, जहां गुरुवार को सुबह साढ़े बजे जेतून बी की मौत हो गई। इससे पहले इंदौर में तीन, उज्जैन में दो और खरगौन में एक कोरोना संक्रमित मरीजों की मौत हो चुकी है। मध्यप्रदेश में कोरोना संक्रमित मरीजों की मौत का आंकड़ा सात पर पहुंच गया है।कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या पहुंची 98इंदौर में 12 नए कोरोना संक्रमित मरीज मिले हैं। बुधवार को देर रात स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी बुलेटिन में इसकी पुष्टि हुई है। इसके साथ ही इंदौर में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 75 और पूरे मध्यप्रदेश में अब तक कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या बढक़र 98 पहुंच गई है। इनमें से अब तक सात  लोगों की मौत हो चुकी है।इंदौर के कलेक्टर मनीष सिंह ने बताया कि बुधवार रात एमजीएम मेडिकल कालेज की वायरोलॉजी लैब द्वारा जारी की गई रिपोर्ट में 12 लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। इनमें से आठ की हालत गंभीर है। रिपोर्ट के अनुसार तंजीम नगर के तीन पुरुष पॉजिटिव पाए गए हैं। इसके अलावा चंदन नगर से 80 वर्षीय महिला पॉजिटिव पाई गई है। यह अब तक की सबसे उम्रदराज पॉजिटव महिला है। खजराना और स्नेहलतागंज से 38 वर्षीय पुरुष और 53 वर्षीय महिला पॉजिटिव पाई गई है। इन नये 12 मामलों को मिलाकर इंदौर में अब कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या बढक़र 75 हो गई। इंदौर में सामने आए इन 12 नए मामलों के बाद मध्यप्रदेश में कुल कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 98 हो गई है। इनमें इंदौर में 75, जबलपुर में आठ, भोपाल में चार, उज्जैन में छह, ग्वालियर में दो, शिवपुरी में दो और खरगौन के कोरोना पॉजीटिव मरीज शामिल हैं। इनमें से प्रदेश में अब तक सात कोरोना संक्रमित मरीजों की मौत हो चुकी है। मरने वालों में चार इंदौर, दो उज्जैन और एक खरगौन का मरीज शामिल है।

Dakhal News

Dakhal News 2 April 2020


indore,Seventh woman ,dies of corona,mp

इंदौर। मध्यप्रदेश की आर्थिक राजधानी इंदौर में गुरुवार को एक और कोरोना संक्रमित महिला की मौत हो गई। एमजीएम मेडिकल कॉलेज के अधिकारियों ने इसकी पुष्टि की है। इसके साथ ही इंदौर में कोरोना संक्रमण से मरने वालों की संख्या चार पहुंच गई है, जबकि मध्यप्रदेश में यह कोरोना से सातवीं मौत है। इंदौर के एमजीएम मेडिकल कॉलेज से मिली जानकारी के अनुसार, कोरोना संक्रमित 65 वर्षीय जेतून बी को 29 मार्च को इंदौर के एमआरटीबी हॉस्पिटल में भर्ती किया गया था, जहां गुरुवार को सुबह साढ़े बजे जेतून बी की मौत हो गई। इससे पहले इंदौर में तीन, उज्जैन में दो और खरगौन में एक कोरोना संक्रमित मरीजों की मौत हो चुकी है। मध्यप्रदेश में कोरोना संक्रमित मरीजों की मौत का आंकड़ा सात पर पहुंच गया है।कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या पहुंची 98इंदौर में 12 नए कोरोना संक्रमित मरीज मिले हैं। बुधवार को देर रात स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी बुलेटिन में इसकी पुष्टि हुई है। इसके साथ ही इंदौर में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 75 और पूरे मध्यप्रदेश में अब तक कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या बढक़र 98 पहुंच गई है। इनमें से अब तक सात  लोगों की मौत हो चुकी है।इंदौर के कलेक्टर मनीष सिंह ने बताया कि बुधवार रात एमजीएम मेडिकल कालेज की वायरोलॉजी लैब द्वारा जारी की गई रिपोर्ट में 12 लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। इनमें से आठ की हालत गंभीर है। रिपोर्ट के अनुसार तंजीम नगर के तीन पुरुष पॉजिटिव पाए गए हैं। इसके अलावा चंदन नगर से 80 वर्षीय महिला पॉजिटिव पाई गई है। यह अब तक की सबसे उम्रदराज पॉजिटव महिला है। खजराना और स्नेहलतागंज से 38 वर्षीय पुरुष और 53 वर्षीय महिला पॉजिटिव पाई गई है। इन नये 12 मामलों को मिलाकर इंदौर में अब कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या बढक़र 75 हो गई। इंदौर में सामने आए इन 12 नए मामलों के बाद मध्यप्रदेश में कुल कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 98 हो गई है। इनमें इंदौर में 75, जबलपुर में आठ, भोपाल में चार, उज्जैन में छह, ग्वालियर में दो, शिवपुरी में दो और खरगौन के कोरोना पॉजीटिव मरीज शामिल हैं। इनमें से प्रदेश में अब तक सात कोरोना संक्रमित मरीजों की मौत हो चुकी है। मरने वालों में चार इंदौर, दो उज्जैन और एक खरगौन का मरीज शामिल है।

Dakhal News

Dakhal News 2 April 2020


bhopal, New 12 Corona positives ,found, Madhya Pradesh,  infected patients reached 98

भोपाल/इंदौर। मध्यप्रदेश में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए किये जा रहे प्रयासों से अन्य शहरों की स्थिति सामान्य हो गई है, लेकिन इंदौर में हालत लगातार बिगड़ती जा रही है। यहां 12 नए कोरोना संक्रमित मरीज मिले हैं। बुधवार को देर रात स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी बुलेटिन में इसकी पुष्टि हुई है। इसके साथ ही इंदौर में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 75 और पूरे मध्यप्रदेश में अब तक कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या बढक़र 98 पहुंच गई है। इनमें से अब तक छह लोगों की मौत हो चुकी है। इंदौर कलेक्टर मनीष सिंह ने बताया कि बुधवार रात एमजीएम मेडिकल कालेज की वायरोलॉजी लैब द्वारा जारी की गई रिपोर्ट में 12 लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। इनमें से आठ की हालत गंभीर बताई गई है। इस महामारी ने शहर के 06 नए इलाकों में दस्तक दे दी है। इससे चिंता और बढ़ गई है।    रिपोर्ट के अनुसार तंजीम नगर के तीन पुरुष पॉजिटिव पाए गए हैं। एक दिन पहले इसी इलाके से एक ही परिवार के 9 सदस्य पॉजिटिव मिले थे। इसके अलावा चंदन नगर से 80 वर्षीय महिला पॉजिटिव पाई गई है। यह अब तक की सबसे उम्रदराज पॉजिटव महिला है। खजराना और स्नेहलतागंज से 38 वर्षीय पुरुष और 53 वर्षीय महिला पॉजिटिव पाई गई है। इन नये 12 मामलों को मिलाकर इंदौर में अब कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या बढक़र 75 हो गई। कलेक्टर ने बताया कि यहां पॉजिटिव मरीजों के मामले अभी और बढ़ सकते हैं, जिसके लिए जिला प्रशासन पूरी तरह तैयार है। इंदौर में सामने आए इन 12 नए मामलों के बाद मध्यप्रदेश में कुल कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 98 हो गई है। इनमें इंदौर में 75, जबलपुर में आठ, भोपाल में चार, उज्जैन में छह, ग्वालियर में दो, शिवपुरी में दो और खरगौन के कोरोना पॉजीटिव मरीज शामिल हैं। इनमें से प्रदेश में अभ तक छह कोरोना संक्रमित व्यक्तियों की मौत हो चुकी है। मरने वालों में तीन इंदौर, दो उज्जैन और एक खरगौन का मरीज शामिल है।

Dakhal News

Dakhal News 2 April 2020


bhopal,Shivraj took feedback , Indore ,gave free hand ,collector

भोपाल/इंदौर। मध्यप्रदेश के अन्य शहरों में कोरोना संक्रमण का फैलाव रुक गया है, लेकिन इंदौर में स्थिति लगातार बिगड़ती जा रही है। इसको लेकर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान भी चिंतित हैं। उन्होंने सोमवार को देर शाम वीडियो काफ्रेंसिंग के जरिये इंदौर कलेक्टर से शहर की जानकारी ली। इसके बाद सीएम ने मंगलवार सुबह भी फोन पर कलेक्टर मनीष सिंह से पूरा फीडबैक लिया और उन्हें हर तरह की शासन से मदद भिजवाने की बात भी कही। वहीं, मुख्यमंत्री ने कोरोना संक्रमण से निपटने के लिए कलेक्टर मनीष सिंह को फ्री हैंड भी दे दिया है। वे इसकी रोकथाम के लिए अब हर तरह का निर्णय लेने के लिए स्वतंत्र हैं। बता दें कि प्रदेश में कोरोना संक्रमण के सबसे अधिक मरीज इंदौर में ही मिले हैं। यहां अब तक 44 मरीज कोरोना पॉजीटिव पाए गए हैं। कोरोना संक्रमण की रोकथाम में लापरवाही के चलते ही यहां कलेक्टर और डीआईजी का दो दिन पहले तबादला किया गया था और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने अपने भरोसेमंद अधिकारी मनीष सिंह को इंदौर कलेक्टर और हरिनारायण चारी मिश्रा को डीआईजी बनाकर भेजा है। मुख्यमंत्री ने इंदौर कलेक्टर मनीष सिंह से सोमवार को देर शाम वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से चर्चा कर सख्ती से लॉकडाउन का पालन करवाने के निर्देश दिये। वहीं, मंगलवार सुबह भी मुख्यमंत्री ने काफी देर तक कलेक्टर मनीष सिंह से फोन पर चर्चा की और शहर के वर्तमान हालातों की जानकारी ली।कलेक्टर ने मुख्यमंत्री को 17 और नये मरीजों के पॉजिटिव पाये जाने की जानकारी दी, तो मुख्यमंत्री ने उन्हें हर तरह की मदद करने की बात कही, जिसमें शासन की ओर से पर्याप्त धनराशि उपलब्ध कराने से लेकर काबिल अफसरों की तैनाती और जनप्रतिनिधियों से भी पूरा सहयोग देने का भरोसा दिया। कलेक्टर ने मुख्यमंत्री को आश्वस्त किया कि संकट की इस घड़ी में पूरा प्रशासन मुस्तैदी से जुटा हुआ है और हम जल्द ही कोरोना पर काबू पा लेंगे। इंदौर में सात दिन रहेगी सख्तीइंदौर में बीते 2 दिनों से पुलिस प्रशासन ने लॉकडाउन और कफ्र्यू के मामले में सख्ती कर रखी है। हालांकि, सोमवार शाम को दूध वितरण के लिये 2 घंटे की जो ढील दी गई थी, उसका भी लोगों ने दुरुपयोग किया और भीड़ के रूप में सडक़ों पर उतर आये, जिसके चलते मंगलवार सुबह घरों तक ही दूध पहुंचाने के इंतजाम किये गये, क्योंकि कोरोना मरीजों की संख्या बढऩे के चलते अब प्रशासन का कहना है कि 7 दिनों तक सख्ती रहेगी। कोई भी व्यक्ति अपने घर से बाहर न निकले।कलेक्टर मनीष सिंह ने सोमवार को ही इंदौर को टोटल लॉकडाउन कर सभी तरह आपूर्ति और सेवाओं पर रोक लगा दी थी, लेकिन नागरिकों की मांग पर शाम पांच से सात बजे तक दूध की सप्लाई की छूट दी गई थी। दो घंटे दूध वितरण की छूट मिलने पर लोग घरों से निकल पड़े और सडक़ों पर भीड़ जमा हो गई। इसे देखते हुए कलेक्टर मनीष सिंह ने फिर सख्ती से दूध की सप्लाई पर भी रोक लगा दी और आदेश दिया कि अब लोगों के घरों पर दूध का वितरण किया जाएगा। उन्होंने कहा कि अगले 7 दिन इसी तरह की सख्ती कायम रहेगी और दूध घरों तक पहुंचाया जायेगा। मंगलवार सुबह से इसकी व्यवस्था भी की गई है। प्रयास यह भी किये जा रहे हैं कि लोगों को अधिक से अधिक दूध पावडर के पैकेट दिये जायें, ताकि वे अगले 4-5 दिन घर पर ही दूध तैयार कर सकें।इधर डीआईजी हरिनारायणचारी मिश्रा ने मंगलवार सुबह सेट पर सभी थाना प्रभारियों को आदेश दिया कि वे मुख्य सडक़ों के चौराहों के अलावा गली-मोहल्ले में भी जाकर लोगों को घरों में रहने की हिदायतें दें। ज्यादातर लोग घर के बाहर इकट्ठे हो रहे हैं और फालतू की चर्चाओं में मशगूल हैं। वहीं कई लोग इकट्ठे होकर जुआं-सट्टा भी खेल रहे हैं, जिन पर सख्ती की जाना आवश्यक है।

Dakhal News

Dakhal News 31 March 2020


 Bhopal, 500 students, trapped abroad , rescued

भोपाल। लॉकडाउन के चलते अपने देश नहीं लौट पाए छात्र छात्राओं को अब रेस्क्यू किया जाएगा । भोपाल सहित अन्य राज्यो से तकरीबन 500 लोग पढ़ाई करने या टूरिस्ट वीजा पर इटली और ईरान गए हुए है थे जिनको अब भोपाल लाया जा रहा है ।     बात दें कि एक विशेष हवाई जहाज द्वारा 02 अप्रैल को करीबन 500 लोगो के भोपाल पहुचने की उम्मीद है जहां भोपाल के ई एम ई सेंटर में इनके लिए बनाया 500 बेड का अस्पताल बनाया गया है । जहाँ इन्हें 14 दिन तक क्वारटाइन किया जाएगा। यह आइसोलेन वार्ड सेना के अधिकारियों की सतत निगरानी में तैयार किया गया है इस आइसोलेशन वार्ड की निगरानी खुद सेना के अफसर करेंगे।   

Dakhal News

Dakhal News 31 March 2020


indore,40 samples,Bhopal, 17 patients, corona positive ,44 patients

इंदौर। देश की मिनी मुंबई कहलाने वाले इंदौर शहर में कोरोना का कहर बढ़ता ही जा रही है। इंदौरवासियों के लिए एक ओर चिंता की खबर है। इंदौर से भोपाल भेजे गए 40 सैंपल्स में से 17 मरीज कोरोना पॉजिटिव आए हैं। सभी मरीज इंदौर के हैं। इसके साथ ही इंदौर में कोराना वायरस संक्रमित मरीजों की संख्या 40 पार यानि कुल 44 मरीज हो गए है। इंदौर प्रशासन ने इसकी पुष्टि की है और साथ ही कोरोना मरीजों की बढ़ती संख्या को बहुत ही चिंताजनक बताया है।   कोरोना संक्रमण के चलते जहां अब तक इंदौर में 3 लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ी है, वही अब यहां कोरोना संक्रमण के शिकार लोगों की संख्या भी तेजी से बढ़ रही है। इंदौर के चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग को रविवार को इंदौर से भोपाल भेजे गए 40 सैंपल की जांच रिपोर्ट मिली है। रिपोर्ट में 17 लोग कोरोना से संक्रमित पाए गए है और अब स्वास्थ्य विभाग सभी 17 लोगों को संक्रमण के दृष्टिकोण से इलाज में जुट गया है। बताया जा रहा है कि भोपाल से आई रिपोर्ट में 17 मरीजो में कोरोना की पुष्टि होने के बाद अब इंदौर में कोरोना पॉजिटिव मरीजो की संख्या 42 तक पहुंच गई है। वही 13 मरीजों की दोबारा जांच आईसीएमआर के निर्देश के अनुसार की जा रही है जिन्हें अभी संदिग्ध माना जा रहा है। फिलहाल, अकेले इंदौर में कोरोना से 3 मौत हो चुकी है वही पॉजिटिव मरीजों की संख्या बढक़र 44 तक जा पहुंची है जो इंदौर के लिए एक बड़े खतरे की घन्टी माना जा रहा है। उल्लेखनी है कि कोरोना संक्रमण के मामले में इंदौर संक्रमित शहरों की सूची में आठवें नंबर पर है। वहीं कोरोना संक्रमण से मौत के मामले में भी मप्र दूसरे नंबर पर है। अब तक कोरोना से सबसे ज्यादा मौतें महाराष्ट्र में हुई हैं उसके बाद दूसरे नंबर पर मप्र है। 

Dakhal News

Dakhal News 31 March 2020


bhopal, Number, corona infected ,patients reached 39

भोपाल। मध्यप्रदेश में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। शनिवार देर रात एमजीएम मेडिकल कॉलेज से जारी की गई जांच रिपोर्ट में पांच नये कोरोना संक्रमित मरीजों की पुष्टि हुई है। इसके साथ ही इंदौर में कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या बढ़कर 24 और मध्यप्रदेश में 39 हो गई है।  मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. प्रवीण जड़िया ने बताया कि शनिवार-रविवार की दरमियानी रात करीब एक बजे जारी की गई हेल्थ रिपोर्ट में पांच नए कोरोना संक्रमित मरीज सामने आए हैं। इसमें चार पुरुष मरीज इंदौर के और एक महिला उज्जैन की है। इसके साथ ही इंदौर में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 24 पहुंच गई है। इनमें 19 इंदौर के, चार उ