उज्जैनः 25 अप्रैल से शुरू होगी पंचक्रोशी यात्रा
ujjain,Panchkroshi Yatra ,start from April 25

उज्जैन। भगवान महाकाल की नगरी उज्जैन में कोरोना काल के दो साल बाद इस बार श्रद्धालु धूमधाम से पंचकोशी यात्रा कर सकेंगे। आगामी 25 अप्रैल को वैशाख कृष्ण दशमी पर यात्रा का शुभारंभ होगा। यात्री पटनी बाजार स्थित नागचंडेश्वर मंदिर में भगवान से बल लेकर यात्रा की शुरुआत करेंगे। पांच दिवसीय यात्रा का समापन 29 अप्रैल को अमावस्या पर होगा। संभागायुक्त संदीप यादव एवं पुलिस महानिरीक्षक संतोष कुमार सिंह ने मंगलवार को 118 किलो मीटर के पंचक्रोशी मार्ग का भ्रमण किया। भ्रमण के दौरान डीआईजी अनिल कुशवाह, कलेक्टर आशीष सिंह, पुलिस अधीक्षक सत्येन्द्र कुमार शुक्ल भी मौजूद थे।

 

संभागायुक्त ने पंचक्रोशी यात्रा मार्ग के सभी पड़ाव स्थल का निरीक्षण किया। उन्होंने सभी पड़ाव स्थल पर सीसीटीवी कैमरे लगाने के निर्देश दिये और कहा कि सीसीटीवी कैमरे से श्रद्धालुओं की सभी व्यवस्थाओं की मॉनीटरिंग की जायेगी। कलेक्टर आशीष सिंह ने विगत वर्षों की तुलना में इस बार यात्रियों को रूकने के लिये टेन्ट का एरिया बढ़ाने के निर्देश दिये। भ्रमण के दौरान सभी पड़ाव स्थल पर यात्रियों के रूकने की व्यवस्थाएं लगभग पूर्णता की ओर थी।

 

अधिकारियों ने बताया कि टेन्ट एवं टॉयलेट की व्यवस्था 22 अप्रैल को पूर्ण कर ली जायेगी। संभागायुक्त ने कहा कि पड़ाव स्थल की लेवलिंग का कार्य एवं मार्ग की झाड़ियों की सफाई का कार्य पीडब्लयूडी यात्रा प्रारम्भ होने से पहले पूर्ण कर ले। साथ ही पड़ाव स्थल के अलावा ऐसे विश्रांति स्थल पर भी पेयजल की व्यवस्था करने के लिये कहा है, जहां पर यात्रीगण कुछ देर के लिये रूकते हैं। कलेक्टर ने जिला पंचायत सीईओ को प्रत्येक पड़ाव स्थल पर पर्याप्त संख्या में अस्थाई टॉयलेट्स बनाने तथा मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी को प्रत्येक पड़ाव पर मेडिकल कैम्प लगाने के निर्देश दिये।

 

संभागायुक्त एवं आईजी ने मंगलवार को पटनी बाजार स्थित नागचंद्रेश्वर मन्दिर में पूजन-अर्चन कर पंचक्रोशी यात्रा मार्ग के निरीक्षण की शुरूआत की। इसके बाद उंडासा पड़ाव पहुंचे। यहां पर लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग के कार्यपालन यंत्री को संभागायुक्त ने निर्देश दिये कि वे मोटर पम्प की व्यवस्था भी सुनिश्चित करें। कार्यपालन यंत्री ने बताया कि पानी प्रदाय का कार्य कल से प्रारम्भ हो जायेगा। उंडासा प्लांट से भी पानी लिया जायेगा। अस्थाई टॉयलेट बनाने का कार्य शुरू हो चुका है। संभागायुक्त ने निर्देश दिये कि उंडासा में स्थित कुआ की सफाई भी प्राथमिकता से कर ली जाये। उंडासा पड़ाव पर स्थाई 11 पेयजल टंकियां हैं, जिनके माध्यम से पेयजल प्रदान किया जायेगा। साथ ही अन्य व्यवस्था भी की जायेगी।

 

संभागायुक्त ने कहा कि सभी पड़ाव स्थल पर क्या-क्या व्यवस्था रहेगी, इसकी एक चेकलिस्ट भी बना ली जाये और चेकलिस्ट के अनुसार सभी व्यवस्थाएं समय रहते पूर्ण कर ली जायें। बताया गया कि यात्रीगण स्नान के लिये उंडासा तालाब जाते हैं। वापसी में उंडासा आखरी पड़ाव है। मौके पर मौजूद ग्रामीणों ने बताया कि उंडासा तालाब डेमेज हो रहा है। उसमें मरम्मत की आवश्यकता है। संभागायुक्त ने जल संसाधन विभाग के जिम्मेदार अधिकारियों को तालाब की वर्तमान स्थिति का अवलोकन करने के निर्देश दिये।

 

इसके बाद संभागायुक्त ने क्रमश: पिंगलेश्वर, करोहन, नलवा, अंबोदिया, कालियादेह और अन्त में दुर्देश्वर जैथल पड़ाव स्थल का निरीक्षण किया। जैथल में संभागायुक्त ने पेयजल की स्थिति की जानकारी ली। बताया गया कि पड़ाव स्थल पर आठ पानी के टेंकर लगाये जायेंगे और यात्रा के दौरान पांच पानी के टेंकर चलायमान स्थिति में रहेंगे। जैथल में श्रद्धालु 27 अप्रैल को आयेंगे। संभागायुक्त ने निर्देश दिये कि हर पानी के टेंकर में पांच से छह नल की टोटी भी लगा दें। साथ ही गांव में यदि किसी का प्रायवेट ट्यूबवेल है तो वहां से पेयजल अवश्य लें।

 

कलेक्टर ने पंचक्रोशी मार्ग में पड़ने वाले लगभग 58 से 60 मधुमक्खियों के छत्तों को चिन्हित कर उनको हटाने के लिये वन मण्डलाधिकारी को निर्देश दिये। वन विभाग के अधिकारियों ने बताया कि 22 अप्रैल तक केमिकल एवं धुंआ डालकर सभी छत्तों को हटा दिया जायेगा। कलेक्टर ने निर्देश दिये कि सभी पड़ाव स्थल पर पर्याप्त सुरक्षा व्यवस्था, स्नान के लिये फव्वारे लगाने, विभिन्न पड़ाव स्थलों पर इमरर्जेंसी में एम्बुलेंस की व्यवस्था तथा फायर फाइटर की व्यवस्था रखी जाये।

 

कलेक्टर ने पंचक्रोशी यात्रा के दौरान लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग को प्रत्येक पड़ाव एवं उप पड़ाव में शुद्ध पेयजल उपलब्ध कराने हेतु 52 स्थाई एवं अस्थाई टंकियां रखने, नल जल योजनाओं को चालू करने एवं प्रत्येक 500 मीटर पर पेयजल उपलब्ध कराने को कहा है। साथ ही पड़ाव एवं उप पड़ाव स्थल पर टेन्ट लगाने एवं बेरिकेटिंग करने के निर्देश दिये एवं यात्रा मार्ग में आवश्यक स्थान पर स्नान हेतु फव्वारे लगाने के निर्देश दिये हैं। अन्तिम पड़ाव स्थल जैथल में संभागायुक्त एवं आईजी ने दुर्देश्वर महादेव मन्दिर में पूजन-अर्चन किया। निरीक्षण में जिला पंचायत सीईओ अंकिता धाकरे, एसडीएम गोविन्द दुबे सहित सम्बन्धित विभागीय अधिकारी मौजूद थे।

Dakhal News 19 April 2022

Comments

Be First To Comment....

Video

Page Views

  • Last day : 8492
  • Last 7 days : 59228
  • Last 30 days : 77178
x
This website is using cookies. More info. Accept
All Rights Reserved © 2022 Dakhal News.