विशेष


ह्वाइट हाउस खरीदेगा दो एयरफोर्स वन विमान

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप अपने अलग अंदाज के लिए खासे मशहूर हैं। इसी के तहत उन्होंने राष्ट्रपति के आधिकारिक विमान एयर फोर्स वन को भी बदलने की तैयारी कर ली है। ट्रंप दो नए एयर फोर्स वन विमान खरीदने की तैयारी में हैं। अमेरिकी राष्ट्रपति भवन ह्वाइट हाउस ने गुरुवार को कहा कि वह 390 करोड़ डॉलर (करीब 27 हजार करोड़ रुपए) में दो एयरफोर्स वन विमान खरीदेगा। अमेरिका की विमान बनाने वाली कंपनी बोइंग से ये विमान खरीदे जाएंगे। फिलहाल जिस विमान में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप सफर करते हैं, वह 31 वर्ष पुराना हो गया है। नए विमान 2024 तक मिलने की उम्मीद है। नए एयरफोर्स वन विमानों में देशभक्ति का रंग नजर आएगा। जानकारी के अनुसार नए विमार लाल, सफेद और नीले रंग में रंगे होंगे जो अमेरिकी राष्ट्रध्वज में नजर आते हैं। राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने भी एक बयान में कहा कि पारंपरिक नीले सफेद रंग में नजर आने वाला एयरफोर्स वन अब बदलेगा और लाल, सफेद, नीले रंग की स्कीम में नजर आएगा। इसके बाद यह दूनिया के शीर्ष पर होगा।

Dakhal News

Dakhal News 20 July 2018


ह्वाइट हाउस खरीदेगा दो एयरफोर्स वन विमान

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप अपने अलग अंदाज के लिए खासे मशहूर हैं। इसी के तहत उन्होंने राष्ट्रपति के आधिकारिक विमान एयर फोर्स वन को भी बदलने की तैयारी कर ली है। ट्रंप दो नए एयर फोर्स वन विमान खरीदने की तैयारी में हैं। अमेरिकी राष्ट्रपति भवन ह्वाइट हाउस ने गुरुवार को कहा कि वह 390 करोड़ डॉलर (करीब 27 हजार करोड़ रुपए) में दो एयरफोर्स वन विमान खरीदेगा। अमेरिका की विमान बनाने वाली कंपनी बोइंग से ये विमान खरीदे जाएंगे। फिलहाल जिस विमान में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप सफर करते हैं, वह 31 वर्ष पुराना हो गया है। नए विमान 2024 तक मिलने की उम्मीद है। नए एयरफोर्स वन विमानों में देशभक्ति का रंग नजर आएगा। जानकारी के अनुसार नए विमार लाल, सफेद और नीले रंग में रंगे होंगे जो अमेरिकी राष्ट्रध्वज में नजर आते हैं। राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने भी एक बयान में कहा कि पारंपरिक नीले सफेद रंग में नजर आने वाला एयरफोर्स वन अब बदलेगा और लाल, सफेद, नीले रंग की स्कीम में नजर आएगा। इसके बाद यह दूनिया के शीर्ष पर होगा।

Dakhal News

Dakhal News 20 July 2018


nawaz sharif

पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने अपने समर्थकों से अपनी बीमार पत्नी के लिए दुआ करने की भावुक अपील की है। पहले से रिकॉर्ड एक ऑडियो संदेश में नवाज ने कहा है कि जब तक मैं जेल में बंद हूं, हर व्यक्ति से अनुरोध करता हूं कि वे मेरी बीमार पत्नी की सेहत के लिए दुआ करें। उल्लेखनीय है कि कुलसुम नवाज का लंदन के एक अस्पताल में गले के कैंसर का इलाज चल रहा है। इसी बीच दिल का दौरा पड़ने के बाद से उनको जीवन रक्षक उपकरणों पर रखा जा रहा है। उनको गंभीर हालत में छोड़कर ही नवाज पाकिस्तान लौटे हैं। मरियम को देश की बेटी बताते हुए शरीफ ने अपने संदेश में कहा है कि मेरे साथ उसे भी जेल में डाल दिया गया है। लेकिन, मेरे खिलाफ साजिश रच रहे लोग नहीं जानते हैं कि किसी भी जेल की दीवार वोटरों के साथ हमारा रिश्ता तोड़ नहीं सकती है।

Dakhal News

Dakhal News 17 July 2018


 खलीफा बिन सलमान अल-खलीफा- सुषमा

बेहरीन में विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने रविवार को बहरीन के प्रधानमंत्री खलीफा बिन सलमान अल-खलीफा से मुलाकात की। मुलाकात में दोनों देशों के द्विपक्षीय संबंधों के महत्व पर चर्चा हुई। इसे और मजबूत बनाने के तरीकों पर वार्ता हुई। साथ ही सुषमा ने बहरीन के अपने समकक्ष के साथ आपसी सहयोग के लिए बने आयोग की दूसरी बैठक की अध्यक्षता की। वह बहरीन के दो दिवसीय दौरे पर आई हैं। सुषमा ने अपने दौरे की शुरुआत बहरीन के विदेश मंत्री शेख खालिद बिन अहमद अल-खलीफा से मुलाकात के साथ की। शेख खालिद को भारत का शुभचिंतक माना जाता है। इसके बाद दोनों नेताओं ने संयुक्त आयोग की बैठक में हिस्सा लिया। इससे पहले फरवरी 2015 में संयुक्त आयोग की बैठक नई दिल्ली में हुई थी। शेख खालिद ने बहरीन के विकास में भारतीय समुदाय के सहयोग की प्रशंसा की। करीब चार लाख भारतीय बहरीन में रहकर वहां नौकरी और कारोबार करते हैं। बहरीन की कुल आबादी में भारतीयों की हिस्सेदारी एक चौथाई की है। अपने दौरे में सुषमा मानामा के राष्ट्रीय पुस्तकालय को "भारत एक परिचय" पुस्तकों का एक संग्रह भेंट किया। इससे बहरीन के लोगों को भारत के बारे में बेहतर तरीके से जानने का मौका मिलेगा।  

Dakhal News

Dakhal News 16 July 2018


afganistan

वर्ष 2018 के पहले छह महीनों में अफगानिस्तान में जारी संघर्ष और आतंकी हमलों में रिकॉर्ड 1,692 आम नागरिकों की मौत हुई है। इन हमलों में 3,430 नागरिक घायल हुए। अफगानिस्तान में कार्यरत संयुक्त राष्ट्र सहायता मिशन (यूएनएएमए) ने रविवार को ये ताजा आंकड़े जारी किए हैं। शिन्हुआ न्यूज एजेंसी ने यूएनएएमए के हवाले से बताया कि ये आंकड़े इस साल एक जनवरी से 30 जून के बीच के हैं। पिछले 10 वर्षों की तुलना में इस साल पहले छह महीनों में ही सबसे अधिक आम नागरिकों की जान चली गई। रिपोर्ट के अनुसार, नागरिकों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए हमने 2009 से इस संबंध में निगरानी रखने की व्यवस्था की थी। मौत की पहली बड़ी वजह इम्प्रोवाइज्ड एक्सप्लोसिव डिवाइस(आइईडी) का इस्तेमाल है। इस विस्फोटक का इस्तेमाल आतंकी आत्मघाती हमले सहित अन्य हिंसक गतिविधियों में करते हैं। आइईडी के प्रयोग से करीब आधे आम नागरिकों की मौत हुई है। मौत की दूसरी बड़ी वजह सेना और आतंकियों की बीच जारी संघर्ष है। इनमें हवाई हमले और आमने-सामने की लड़ाई शामिल है। 67 फीसद नागरिकों की मौत तालिबान व अन्य कट्टरपंथी संगठनों के हमले में गई। वहीं, 20 फीसद की जान सेना के हमले में गई। बाकी बचे 13 प्रतिशत की मौत अन्य कारणों से हुई है।

Dakhal News

Dakhal News 15 July 2018


 ट्रेन मार्शल,रोकेंगे आतंकी हमले

फ्रांसीसी पुलिस की सामरिक इकाई नेशनल जान्डॉर्मरी इंटरवेंशन ग्रुप देशभर में आतंकवादी हमलों को रोकने के लिए ट्रेनों में 'ट्रेन मार्शल' नाम से सशस्त्र अंडरकवर एजेंट तैनात कर रहा है। अधिकारियों ने बताया कि यह 'ट्रेन मार्शल' समूह यात्रियों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए ट्रेनों में रोज सफर करेंगे और खतरे का स्तर देखते हुए अपने कार्यक्रमों में बदलाव करेंगे। फ्रांस के राष्ट्रीय जान्डॉर्मरी कमांडर कर्नल घिस्लेन रेटी ने ऑपरेशन की शुरुआत की घोषणा की। उन्होंने कहा कि इन गुप्त एजेंटों का लक्ष्य लोगों को सुरक्षा के प्रति आश्वस्त करना है। उन्होंने कहा कि ये एजेंट्स यात्रियों के साथ घुल-मिल जाएंगे। उनके साथ सीट पर बैठकर यात्रा करेंगे और सिर्फ आतंकी हमले की स्थिति में ही हस्तक्षेप करेंगे। जान्डॉर्मरी कमांडर ने कहा कि साल 2015 में एम्स्टर्डम से पेरिस तक के सफर पर निकली ट्रेन पर किया गया असफल हमला, इस ऑपरेशन को लॉन्च करने के लिए प्रेरणा बना। उस घटना में 25 वर्षीय मोरक्कन अयूब अल खजानी ने एक कलशेशिकोव राइफल, एक स्वचालित पिस्तौल और एक चाकू लेकर हमला कर दिया था। ट्रेन में काफी संख्या में लोगों की मौत हो जाती अगर उसमें सवार तीन अमेरिकियों, एक ब्रिटिश और एक फ्रांसीसी नागरिक ने हमलावर को काबू में करने के लिए जान की बाजी नहीं लगाई होती। हालांकि, इससे पहले कि हमलावर को काबू में किया जा सकता, तीन लोग घायल हो गए थे। अधिकारियों ने बताया कि साल 2017 के अंत में फ्रांसीसी राष्ट्रीय रेलवे कंपनी (एसएनसीएफ) के वेन्यू में ट्रेन मार्शल के ऑपरेशन का परीक्षण किया गया था। यह यूएस फेडरल एयर मार्शल सर्विस (एफएएमएस) से प्रेरित था, जिसे 1961 में बनाया गया था। सशस्त्र एफएएमएस एजेंट अमेरिकी वाणिज्यिक उड़ानों पर गुप्त यात्रा करते हैं।  

Dakhal News

Dakhal News 10 July 2018


jammu kashmir

सुरक्षाबलों को दक्षिण कश्मीर के शोपियां के कुमदलान में 5-6 आतंकियों के छिपे होने का शक है। सुरक्षाबलों ने आतंकियों को चारों तरफ से घेरा। जम्मू-कश्मीर के शोपियां में मंगलवार की सुबह सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़ जारी है। इस मुठभेड़ में तीन आतंकियों के मारे जाने की खबर है, वहीं सुरक्षाबलों के दो जवान घायल हुए हैं। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, सुरक्षाबलों को दो आतंकियों के शव मिले हैं। सुरक्षाबलों को दक्षिण कश्मीर के शोपियां के कुमदलान में 5-6 आतंकियों के छिपे होने का शक है। सुरक्षाबलों ने आतंकियों को चारों तरफ से घेर लिया है। मिली जानकारी के अनुसार, मंगलवार की सुबह सेना की 34 आरआर के जवानों के साथ मिलकर सीआरपीएफ और राज्य पुलिस के विशेष अभियान दल एसओजी के जवानों ने कुंडलन में आतंकियों के छिपे होने की सूचना पर एक तलाशी अभियान चलाया। गांव में तलाशी लेते हुए जवान जैसे ही आगे बढ़े, एक मकान में छिपे आतंकियों ने उन पर फायरिंग कर दी। आतंकियों ने जवानों पर पहले राइफल ग्रेनेड दागा और उसके बाद उन्होंने अपने स्वचालित हथियारों से फायरिंग की। जवानों ने भी अपनी पोजीशन ली और जवाबी फायर किया। इसके बाद वहां मुठभेड़ शुरू हो गई जिसमें एक जेसीओ समेत दो सैन्यकर्मी घायल हो गए। हालांकि मकान में छिपे आतंकियों की संख्या की तत्काल पुष्टि नहीं हो पाई है। लेकिन संबधित अधिकारियों के मुताबिक, आतंकियों की संख्या पांच हो सकती है। संयुक्त सुरक्षा बलों की घेराबंदी और फायरिंग के बाद आतंकियों की ओर से भी फायरिंग की गई। जेसीओ समेत दो सैन्यकर्मी आतंकियों के साथ मुठभेड़ में गंभीर रुप से घायल हो गए। फिलहाल, दोनों का सेना के 92बेस अस्पताल में उपचार किया जा रहा है। इस बीच, मुठभेड़स्थल पर जमा हुई आतंकियों की समर्थक भीड़ व पुलिस के बीच हिंसक झड़पें भी शुरू हो गई हैं। मुठभेड़ शुरू होते ही बड़ी संख्या में शरारती तत्व भड़काऊ नारेबाजी करते हुए मुठभेड़स्थल पर जमा हो गए। उन्होंने आतंकरोधी अभियान में रुकावट डालते हुए सुरक्षाबलों पर पथराव करते हुए घेराबंदी तोड़ने का प्रयास भी किया। इस पर वहां मौजूद पुलिस के जवानों ने उन्हें खदेड़ने के लिए आंसू गैस और लाठियों का सहारा लिया। इसके बाद वहां हिंसक झड़पें भी शुरू हो गई। संबधित अधिकारियों के मुताबिक, पथराव के बावजूद सुरक्षाबलों ने आतंकियों को मार गिराने का अपना अभियान जारी रखा हुआ है।

Dakhal News

Dakhal News 10 July 2018


भारत-चीन के बीच शांति के लिए बनी सहमति

सिलीगुड़ी में  चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी का प्रतिनिधिमंडल के साथ यहां सुकना स्थित आर्मी त्रिशक्ति कोर में बुधवार को हुई बैठक में भारत-चीन सीमा पर शांति व भाईचारा कायम रखने पर सहमति बनी। इसके पूर्व सिलीगुड़ी (पश्चिम बंगाल) के सुकना स्थित त्रिशक्ति कोर में चीनी प्रतिनिधिमंडल का पारंपरिक ढंग से भव्य स्वागत किया गया। इसके बाद लेफ्टिनेंट जनरल प्रदीप एम बाली के नेतृत्व में उच्च स्तरीय बैठक हुई। बैठक में दोनों पक्षों ने उम्मीद जताई कि यह वार्ता सीमा पर शांति बनाए रखने में महत्वपूर्ण योगदान देगी। यह वार्ता "विश्वास निर्माण" की पहल का हिस्सा है, जो कि विभिन्ना स्तरों पर सीनियर कमांडरों के बीच हो रही है। पिछली वार्ता पूर्वी कमान मुख्यालय कोलकाता में फरवरी, 2017 में हुई थी। चीनी सेना का प्रतिनिधिमंडल गुरुवार को कोलकाता के लिए रवाना होगा। चीनी सेना के प्रतिनिधिमंडल में लेफ्टिनेंट जनरल ल्यू ज्याओ भी शामिल हैं।

Dakhal News

Dakhal News 5 July 2018


डोनाल्ड ट्रंप प्रशासन

  ईरान से कच्चे तेल का आयात कम करने वाले देशों की मदद करने के लिए अमेरिका तैयार है। लेकिन वह भारत और टर्की जैसे देशों को ईरान से तेल आयात की छूट देने को तैयार नहीं है। यह जानकारी डोनाल्ड ट्रंप प्रशासन के एक वरिष्ठ अधिकारी ने दी। भारत के लिए ईरान तीसरा सबसे बड़ा कच्चा तेल सप्लायर देश है। अप्रैल 2017 से जनवरी 2018 के बीच दस ईरान से 184 लाख टन कच्चे तेल का आयात किया गया। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने ईरान के साथ परमाणु समझौता रद करके दोबारा प्रतिबंध लगा दिए थे। ये प्रतिबंध ईरान के परमाणु कार्यक्रम की वजह से लगाए गए हैं। अमेरिका ने विदेशी कंपनियों को ईरान की कंपनियों के साथ कारोबार बंद करने के लिए 180 दिन तक का समय दिया है। अब भारत और चीन समेत सभी देशों पर ईरान से तेल आयात चार नवंबर तक बंद करने के लिए दबाव डाल रहा है। विदेश विभाग के अधीन पॉलिसी प्लानिंग के डायरेक्टर ब्रायन हुक ने कहा कि हम किसी को भी छूट देने पर विचार नहीं कर रहे हैं क्योंकि इससे ईरान पर दबाव कम हो जाएगा।  

Dakhal News

Dakhal News 4 July 2018


चीनी लेजर गन आधा मील की दूरी से आग में जला देगी

  चीन में एक कंपनी ने "लेजर एके -47" का उत्पादन करने का दावा किया है। कंपनी का कहना है कि उसकी इस बंदूक से आधे मील दूर एक सेकंड से भी कम समय में किसी व्यक्ति को जलाया जा सकता है। हालांकि, कंपनी के इस दावे पर विशेषज्ञ संदेह जाहिर कर रहे हैं। ZKZM 500 नाम के इस हथियार के बारे में साउथ चाइना मॉर्निंग पोस्ट में प्रकाशित किया गया है। इसमें दावा किया गया है यह हथियार राइफल के आकार और वजन के बराबर का है। यह सैकड़ों शॉट्स को फायर करने में सक्षम है, जो इंसानी त्वचा को तत्काल राख में बदल देती है। शोधकर्ताओं में से एक ने कहा कि इससे होने वाला दर्द सहनशक्ति से परे होगा। हालांकि, इस हथियार को लेकर शोधकर्ताओं के जो संशय हैं, वे अपनी जगह पर सही हैं। पहला सरल तथ्य यह है कि इस हथियार के बारे में सिर्फ जानकारी दी गई है, इसको प्रदर्शित नहीं किया गया है। दूसरा यह है कि हथियार के बारे में जो दावे किए जा रहे हैं, वह भौतिकी के सिद्धांतों से मिलते नहीं हैं। सबसे पहली वजह बिजली की समस्या की है। अपेक्षाकृत कम शक्ति की लेजर आंखों को आसानी से नुकसान पहुंचा सकती है, क्योंकि हमारी आंखें पृथ्वी पर विकसित सबसे संवेदनशील ऑप्टिकल उपकरणों में से हैं। मगर, ऐसी लेजर एक गुब्बारे को फोड़ने में भी असमर्थ साबित हो सकता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि आंखों को नुकसान इसलिए होता क्योंकि वे प्रकाश-संवेदनशील माध्यम पर प्रकाश के ज्यादा होने की वजह से होता है। वहीं, फिजिकल बॉडी (चाहे वह मानव शरीर हो या मिसाइल) का विनाश गर्मी के कारण होता है। बड़े पैमाने पर लेजर हथियार प्रणालियों से जरूरत भर की गर्मी पैदा करने के लिए जिससे क्षति हो सके, काफी शक्तिशाली बैटरियों की जरूरत होगी। आधा मील दूर तुरंत एक व्यक्ति को जलाने के लिए यह काफी बड़ी होनी चाहिए। लेख में कहा गया है कि बंदूक में रिचार्जेबल लिथियम-आयन बैटरियां लगाई गई हैं। सिद्धांत रूप में यह बैट्री आपके फोन में लगी बैट्री की तरह ही है। इसके साथ ही यह कहा गया है कि यह दो-सेकंड वाले एक हजार शॉट्स चला सकती है। यानी दो हजार सेकंड तक चल सकती है, जिसका अर्थ है कि यह आधे घंटे काम कर सकती है। एयरबोर्न और विहिकल सिस्टम्स के द्वारा परीक्षण की गई इस परिमाण का एक एकल लेजर "शॉट" के लिए कई किलोवाट ऊर्जा की जरूरत होगी। फिर भी ये गंभीर क्षति पहुंचाने में कारगर नहीं होंगी। यही कारण है कि जो लोग लेजर को हथियार के तौर पर विकसित कर रहे थे, उन्होंने इसे छोड़ दिया। गोली की तुलना में लेजर जब आगे की ओर गति करते हैं, तो वे फैलते जाते हैं। लिहाजा, वे कमजोर हो जाते हैं और उनमें इतनी ऊर्जा नहीं रहती कि वे 800 मीटर की दूरी से किसी फिजिकल बॉडी को जला सकें। हालांकि, इसमें कोई संदेह नहीं है कि पृथ्वी से अंतरिक्ष तक जाने वाले और अंतरिक्ष से धरती तक आने वाले लेजर हैं। मगर, वे कुछ फोटॉन को ही गंतव्य पर पहुंचा सकती हैं और उन्हें सिग्नल के रूप में ही समझना चाहिए।  

Dakhal News

Dakhal News 2 July 2018


पाकिस्तान ने भारत को सौंपी ,जेलों में बंद 471 कैदियों की सूची

  पकिस्तान जेलों में बंद 471 कैदियों की सूची रविवार को पड़ोसी देश ने भारतीय उच्चायुक्त को सौंप दी है। इसमें 418 मछुआरों के अलावा 53 ऐसी कैदी शामिल हैं, जो अवैध तरीके से पाकिस्तानी जल सीमा लांघने के चलते बंदी बना लिए गए थे। पाकिस्तानी विदेश मंत्रालय की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि दोनों देशों के बीच 21 मई 2008 को हुए समझौते के तहत यह सूची जारी की गई है। गौरतलब है कि समझौते के तहत साल में दो बार यानी पहली जनवरी और पहली जुलाई को दोनों ही देशों को बंदी बनाए गए नागरिकों की सूची एक-दूसरे से साझा करनी होती है। बयान में उम्मीद जताई गई है कि भारत भी जल्द ही पाकिस्तानी उच्चायोग को भारतीय जेलों में बंद कैदियों की सूची सौंप देगा।  

Dakhal News

Dakhal News 2 July 2018


आव्रजन नीति के खिलाफ अमेरिका में बड़ा प्रदर्शन

  वॉशिंगटन में ट्रंप प्रशासन की नई आव्रजन नीति के खिलाफ अमेरिका में  बड़ा विरोध प्रदर्शन किया गया। प्रदर्शन के दौरान भारतीय मूल की सांसद प्रमिला जयपाल समेत करीब 600 महिलाओं को गिरफ्तार कर लिया गया। बाद में हालांकि उन्हें छोड़ दिया गया। अमेरिकी सीमाओं पर बिना दस्तावेज पकड़े जाने वाले अप्रवासी परिवारों से बच्चों को अलग करने वाली इस नीति का देश में भारी विरोध हो रहा है। इस नीति के चलते करीब दो हजार बच्चों को उनके माता-पिता से अलग कर दिया गया। इस नीति के खिलाफ अमेरिका के 17 राज्य कोर्ट में मुकदमा भी दायर कर चुके हैं। कैपिटल हिल पुलिस के अनुसार, महिलाओं को अवैध रूप से प्रदर्शन करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था। उन्हें उस समय गिरफ्तार किया गया जब वे अमेरिकी सीनेट की हार्ट बिल्डिंग के पास धरने पर बैठी थीं। इससे पहले इन महिलाओं ने राजधानी वॉशिंगटन की सड़कों पर विरोध मार्च निकाला। मार्च में शामिल प्रमिला जयपाल ने कहा, "हम डोनाल्ड ट्रंप और उनके प्रशासन की उस अमानवीय नीति का विरोध कर रहे हैं जो शरण मांगने वाले परिवारों को अलग कर रही है।" प्रमिला अमेरिकी संसद के निचले सदन प्रतिनिधि सभा की पहली भारतवंशी महिला सांसद हैं। प्रमिला ने किया जेल का दौराप्रमिला संसद की पहली सदस्य हैं जिन्होंने एक संघीय जेल का दौरा किया। इस जेल में शरण मांगने वाले लोगों को बच्चों से अलग करके रखा गया है। यहां रखे गए लोगों ने प्रमिला को अपनी आपबीती सुनाई।  

Dakhal News

Dakhal News 30 June 2018


जम्मू-कश्मीर

  जम्मू-कश्मीर में लगातार हो रही बारिश के कारण झेलम नदी खतरे के निशान से ऊपर बहने लगी है। लगातार हो रही बारिश के कारण राज्य में बाढ़ से हालात पैदा हो गए हैं। प्रशासन ने इसे देखते हुए सभी स्कूलों की छुट्टी घोषित कर दी है वहीं स्थिति को देखते हुए राज्यपाल ने आपात बैठक कर हालात का जायजा लिया है। वहीं तवी नदी में पानी बढ़ने से यहां 6 लोग फंस गए जिन्हें स्टेट डिजास्टर रिस्पॉन्स टीम ने बचाया। जानकारी के अनुसार राज्य बाढ़ नियंत्रण अधिकारियों ने कहा है कि झेलम का जल स्तर मुंशी बाग के करीब खतरे के निशान से ऊपर पहुंच गया है। इसे देखते हुए बाढ़ का अलर्ट जारी कर दिया है। बता दें कि राज्य में दो दिनों से लगातार हो रही मुसलाधार बारिश के चलते सभी नदियों का जलस्तर बढ़ गया है। वहीं इसके कारण शुक्रवार को अमरनाथ यात्रा भी रोकनी पड़ी थी। नदियों के बढ़ते जलस्तर को देखते हुए अधिकारी अलर्ट हो गए हैं और बाढ़ के हालात से निपटने की तैयारियां कर ली गई हैं।

Dakhal News

Dakhal News 30 June 2018


pakistan

आतंकियों की पनाहगाह कहे जाने वाले पाकिस्तान ने फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स (एफएटीएफ) को 26 सूत्री समग्र कार्रवाई योजना सौंपी है। इस्लामाबाद को डर है कि एफएटीएफ उसे काली सूची में डाल देगा। पाक की योजना में मुंबई आतंकी हमलों के मास्टरमाइंड हाफिज सईद के जमात उद-दावा और उससे जुड़े संगठनों सहित अन्य आतंकी संगठनों के चंदे पर रोक लगाने के कदम शामिल हैं। पेरिस में मंगलवार को एफएटीएफ का पूर्ण सत्र शुरू हुआ है। इस सत्र में 15 माह के विस्तार वाली पाकिस्तान की 26 सूत्री कार्रवाई योजना पर विचार किया जाएगा। पाकिस्तान की स्थिति पर शुक्रवार को औपचारिक घोषणा होने की उम्मीद है। पाकिस्तान अभी एफएटीएफ की ग्रे लिस्ट में शामिल है। उसे एफएटीएफ द्वारा मनी लांड्रिंग विरोधी और आतंकी फंडिंग नियमों का पालन नहीं करने वाले देशों की सूची में शामिल किए जाने का डर सता रहा है। अधिकारियों को भय है कि इस सूची में शामिल होने से देश की अर्थव्यवस्था को नुकसान पहुंचेगा। देश की अर्थव्यवस्था पहले से ही दबाव में है। एफएटीएफ एक अंतर-सरकारी निकाय है। मनी लांड्रिंग, आतंकी फंडिंग और अंतरराष्ट्रीय वित्तीय प्रणाली की एकजुटता से संबंधित अन्य खतरों से मुकाबले के लिए 1989 में इसकी स्थापना की गई थी। सूत्रों के मुताबिक, पाकिस्तान को प्लान में दिए गए अपने पहले लक्ष्य को अगले साल जनवरी तक पूरा करना है। सभी 26 कार्रवाई सितंबर 2019 तक पूरी करनी है। फरवरी 2018 में एफएटीएफ ने पाकिस्तान को निगरानी सूची में रखने को मंजूरी दी थी। अंतरराष्ट्रीय सहयोग समीक्षा समूह (आइसीआरजी) के तहत निगरानी के लिए रखे जाने को ग्रे लिस्ट के रूप में जाना जाता है। यदि एफएटीएफ पाकिस्तान की 26 सूत्री कार्रवाई योजना को मंजूर करता है तो वह औपचारिक रूप से ग्रे लिस्ट में रखा जाएगा। ठुकराए जाने की स्थिति में पाकिस्तान को एफएटीएफ के पब्लिक स्टेटमेंट में रखा जाएगा जिसे काली सूची कहा जाता है।

Dakhal News

Dakhal News 28 June 2018


सामने आया सर्जिकल स्ट्राइक का वीडियो , दिखा सेना का पराक्रम

गुलाम कश्मीर में स्थित आतंकी शिविरों और लांचिंग पैड पर भारतीय सेना की बहुचर्चित सर्जिकल स्ट्राइक का बुधवार को एक और सुबूत सामने आया है। यह सुबूत एक वीडियो फुटेज के रूप में है। इस फुटेज में भारतीय जवान पाकिस्तान क्षेत्र में दाखिल होकर आतंकी ठिकानों पर हमला करते नजर आ रहे हैं। सर्जिकल स्ट्राइक का पाकिस्तान और आतंकी संगठनों ने हमेशा खंडन किया है, लेकिन 21 माह बाद अब वीडियो फुटेज के सामने आने के बाद एक बार फिर स्पष्ट हो गया है कि भारतीय जवानों ने दुश्मन को उसके घर में घुसकर मजा चखाया था। भारतीय सेना की चार और नौवीं वाहिनी से संबंधित पैरा कमांडो दस्ते ने 28 और 29 सितंबर 2016 की दरमियानी रात को उत्तरी कश्मीर में एलओसी पार कर गुलाम कश्मीर के दो से तीन किलोमीटर अंदर के इलाके में जाकर आतंकियों के सात लांचिग पैड को तबाह किया था। इस कार्रवाई में कई आतंकी सरगना मारे गए थे। पाकिस्तानी सेना को भी इसमें नुकसान उठाना पड़ा था। भारतीय सेना ने यह कार्रवाई 18 सितंबर 2016 को उड़ी स्थित सैन्य ब्रिगेड मुख्यालय पर हुए आतंकियों के आत्मघाती हमले का बदला लेने के लिए की थी। इस हमले में 20 सैन्यकर्मी शहीद हुए थे। गुलाम कश्मीर में स्थित आतंकी ठिकानों पर हमले का खुलासा 29 सितंबर 2016   को तत्कालीन डीजीएमओ लेफ्टिनेंट जनरल रणबीर सिह ने किया था। लेफ्टिनेंट जनरल रणबीर सिह इस समय ऊधमपुर स्थित सेना की उत्तरी कमान प्रमुख हैं। संबंधित सूत्रों ने बताया कि इस अभियान में शामिल सेना की चार और 9वीं वाहिनी की घातक टीम और पैरा कमांडो दस्ते की हेलमेट पर लगे कैमरों ने लांचिग पैड पर हुई हर कार्रवाई को रिकार्ड किया था और यह वही फुटेज है। गुलाम कश्मीर में भारतीय सेना द्वारा कार्रवाई करने से 10 दिन पहले लगातार इस अभियान की योजना पर काम हुआ। घातक दस्तों ने पूरे इलाके का खाका तैयार किया। सेना व अन्य खुफिया एजेंसियों ने अपने तंत्र द्वारा कुछ खास लांचिग पैड को चिह्नित किया। सेटलाइट की मदद भी ली गई और अमावस की रात आते ही भारतीय जवान पाकिस्तानी क्षेत्र में घुस गए। इस अभियान की पीएम नरेंद्र मोदी, तत्कालीन रक्षामंत्री मनोहर पर्रिकर, राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोवाल और तत्कालीन डीजीएमओ रणबीर सिह ने लगातार निगरानी की थी। अलबत्ता, श्रीनगर स्थित रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता समेत किसी भी अन्य सैन्य अधिकारी ने सर्जिकल स्ट्राइक के वीडियो की पुष्टि नहीं की है। सर्जिकल स्ट्राइक के बारे में लेफ्टिनेंट जनरल (रिटायर) डीएस हुडा ने एक टीवी चैनल को बताया कि जब कोई इसपर सवाल उठाता है तो निराशा होती है। हम झूठ नहीं बोलते।' हुडा उत्तरी कमान के कमांडर रह चुके हैं।  

Dakhal News

Dakhal News 28 June 2018


नाइजीरिया में किसानों और चरवाहों के बीच हुई हिंसक झड़प

  नाइजीरिया में किसानों और चरवाहों के बीच हुई हिंसक झड़प में 86 लोगों की मौत हो गई। बार्किन लाडी के पठारी प्रदेश में जनजातीय बेरोम किसानों ने गुरुवार को फुलानी चरवाहों पर हमला किया था, जिसमें पांच चरवाहों की मौत हो गई थी, इसके बाद हिंसा की शुरुआत हुई। इसके जवाब में चरवाहों ने शनिवार को हमला किया, जिसमें बड़े पैमाने पर लोगों की मौत हुई। इस क्षेत्र में जनजातीय समूहों के बीच हिंसा का इतिहास रहा है। द गार्जियन के मुताबिक, देश के तीन हिस्सों में कर्फ्यू लगा दिया गया है। पुलिस आयुक्त अंडी एडी ने कहा कि इस खूनी झड़प के बाद 86 लोगों की मौत हो गई जबकि छह घायल हैं। उन्होंने आगे बताया कि 50 घरों को जला दिया गया है जबकि 15 मोटरसाइकिल और दो वाहन भी फूंक दिए गए। मृतकों के शवों को उनके परिजनों तक पहुंचा दिया गया है। प्रशासन का कहना है कि नाइजीरिया के समयानुसार रियोम, बारिकिन लाडी और जोस साउथ क्षेत्रों में शाम छह बजे से सुबह छह बजे तक कर्फ्यू रहेगा। गौरतलब है कि नाइजीरिया में जमीन और अन्य संसाधनों को लेकर किसानों और घुमंतू समूहों में अक्सर हिंसक झड़पें होती हैं, जिनमें बड़ी संख्या में लोग मारे जाते हैं। इस तरह के हिंसा की घटना के कारण देश के राष्‍ट्रपति मोहम्‍मदु बुहारी पर दवाब बन गया है क्‍योंकि अगले साल ही यहां चुनाव होना है। बता दें कि रविवार को जनजातीय समूह बेराम के युवाओं द्वारा जोस-एबुजा हाइवे पर उन मोटरसाइकिल चालकों पर हमला किया गया जो फुलानी और मुस्‍लिम थे।

Dakhal News

Dakhal News 25 June 2018


मोदी बोले -भारत और सैशेल्स बड़े रणनीतिक साझेदार

भारत दौरे पर आए राष्ट्रपति डैनी फॉरे ने सोमवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की। इसके बाद दोनों के बीच हुई द्वीपक्षीय व्राता में दोनों देशों के बीच 6 समझौतों पर हस्ताक्षर किए गए। समझौतों के बाद साझा बयान जारी करते हुए प्रधआनमंत्री ने कहा कि भारत और सैशेल्स बड़े रणनीतिक साझेदार हैं। हम लोकतंत्र की मूल भावना का सम्मान करते हैं और हिंद महासागर में सुरक्षा, शांति और स्थिरता के लिए एक ही जियो स्ट्रेटेजिक विजन रखते हैं। हमने सैशेल्स को रक्षा क्षैत्र के लिए 100 मिलियन डॉलर क्रेडिट पर दिए हैं। वहीं सैशेल्स के राष्ट्रपति ने कहा कि पीएम मोदी के नेतृत्व में भारत के पास विजनरी समझदारी है कि क्या जरूरी है। खासतौर पर सुरक्षा और हमारे दौर की चुनौतियों के बारे में जिनमें क्लाइमेट चेंज, बहुपक्षीय व्यापार और अनेकता की दूरियों को कम करना है। इससे पहले सुबह राष्ट्रपति फॉरे का औपचारिक स्वागत हुआ जहां उन्हें गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया। इसके बाद प्रधानमंत्री ने उनका स्वागत किया। वहीं राष्ट्रपति फॉरे अपनी पत्नी के साथ दो दिन के गुजरात दौरे पर गए । शनिवार सुबह वे साबरमती आश्रम पहुंचे जहां उन्होंने गांधी जी का निवास ह्दयकुंज देखा और उनकी पत्नी ने चरखा काटा। इससे पहले उन्होंने भारतीय प्रबंध संस्थान का दौरा किया । सेशेल्स के राष्ट्रपति शुक्रवार शाम को ही अहमदाबाद पहुंच गए थे। शनिवार सुबह उन्होंने भारतीय प्रबंध संस्थान अहमदाबाद का दौरा किया। यहां उन्होंने अपने पुराने मित्र संस्थान के निदेशक प्रो. एरोल डिसूजा से भेट की। इसके बाद वे सीधे साबरमती आश्रम पहुंचे जहां आश्रम के ट्रस्टी अमृत मोदी व कार्तिके साराभाई ने उन्हें आश्रम का भ्रमण कराया । राष्ट्रपति डैनी फॉरे ने गांधीजी का निवास ह्दय कुंज देखा उनकी पत्नी ने यहां चरखा भी काटा। आश्रम के ट्रस्टी अमृत मोदी व कार्तिके साराभाई ने राष्ट्रपति डैनी फॉरे को एक चरखा तथा गांधीजी की तीन पुस्तकें भेट की। उनमें गाँधीजी की आत्मकथा , अहमदाबाद में अहिंसा नामक पुस्तक है। इसके बाद वे गांधीनगर स्थित जीएफएसयू में अपने देश के 18 पुलिस अधिकारियों से बात की जो यहां प्रशिक्षण लेने आये है। राज्यपाल ओपी कोहली के साथ उन्होंने दोपहर का भोजन किया। इसके बाद करीब 2.30 बजे वे गोवा के लिए रवाना हो गये। सेशेल्स के राष्ट्रपति डेनी फॉरे सात दिन के भारत यात्रा पर है। पहले चहण में दो दिन के गुजरात और गोवा के दौरे के बाद वे नई दिल्ली में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और प्रधानमंत्री से मिलेंगे।  

Dakhal News

Dakhal News 25 June 2018


india

भारत को आतंक के खिलाफ लड़ाई में अपने पड़ोसी देशों का साथ मिलने जा रहा है। छह पड़ोसी देशों ने भारत के साथ सैन्य अभ्यास करने के लिए हामी भरी है। पहली बार भारत की सेना श्रीलंका, बांग्लादेश, भूटान, नेपाल, थाईलैंड और म्यांमार की सेनाओं के साथ युद्धाभ्यास करेगी। यह सैन्य अभ्यास पुणे में आयोजित किया गया है। इसका मकसद काउंटर टेररिस्ट ऑपरेशन में एक दूसरे का सहयोग करने के साथ ही मिलिट्री फोरम बनाना है। बता दें कि प्रधानमंत्री मोदी अपनी विदेश यात्राओं में इस बात पर जोर देते रहे हैं कि भारत और पड़ोसी देशों को मिलकर आतंक के खिलाफ लड़ाई लड़नी चाहिए। एक वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक, काउंटर टेररिस्ट ऑपरेशन में सबसे बड़ी परेशानी यह होती है कि आतंकवादी किसी एक देश को अपना बेस बनाकर पड़ोसी देश में आतंक फैलाते हैं। वहां वारदात अंजाम देकर फिर उस देश में वापस भाग जाते हैं जहां उनका बेस होता है। इसलिए काउंटर टेररिस्ट ऑपरेशन की सफलता इस पर निर्भर करती है कि अलग अलग देश आतंकियों पर लगाम लगाने के लिए एक दूसरे का सहयोग करते हुए एक फोरम के तहत मिलकर काम करें। इसलिए सात देशों की यह पहल अहम है। वे ऑफ बंगाल इनिशिएटिव फॉर मल्टी सेक्टोरल टेक्निकल एंड इकोनॉमिक कोऑपरेशन (बिम्सटेक) देशों के बीच सैन्य अभ्यास के लिए पहली प्लानिंग कांफ्रेस हो गई है। जिसमें तय किया गया है कि भारत, श्रीलंका, बांग्लादेश, भूटान, नेपाल, थाईलैंड और म्यांमार की सेनाएं मिलकर 10 सितंबर से 16 सितंबर तक संयुक्त सैन्य अभ्यास करेंगें। इस पहले बिम्सटेक सैन्य अभ्यास की मेजबानी भारत करेगा। सभी सात देशों की सेना से पांच-पांच अधिकारी और 25-25 दूसरे रैंक के फौजी इसमें शिरकत करेंगे। 15 और 16 सितंबर को इन सभी सात देशों के सेना प्रमुखों की कांफ्रेस भी होगी। जिसमें सभी मिलकर इस मल्टी नेशन एक्सरसाइज का रिव्यू करेंगे। इस मीटिंग में इस विकल्प पर भी विचार होगा कि क्या एक क्षेत्रीय सुरक्षा फोरम बनाया जा सकता है ताकि मिलकर आतंकवाद से और ट्रांस नेशनल क्राइम से मुकाबला किया जा सके। आपको बता दें कि 2012 से भारत ने दूसरे देशों के साथ सैन्य अभ्यास करने की संख्या बढ़ा दी है। भारत ने 2012 में आठ देश, 2013 और 2014 में छह, 2015 में नौ, 2016 में 14, 2017 में 15 और 2018 में अबतक सात सैन्य अभ्यास किए हैं। गौरतलब है कि म्यांमार से आए रोहिंग्या को लेकर भारत आंतरिक सुरक्षा पर खतरा महसूस करता रहा है। अगर म्यांमार सहित बाकी छह देशों के साथ मिलकर भारत एक क्षेत्रीय सुरक्षा फोरम बनाने में कामयाब रहा तो इस तरह की दिक्कतों से निजात मिल सकती है। साथ ही आतंकी इन देशों के जरिये भारत में घुसपैठ की कोशिश करते हैं तो क्षेत्रीय सुरक्षा फोरम उन पर लगाम लगाने में सफल होगा।

Dakhal News

Dakhal News 22 June 2018


कोविंद ने सूरीनाम के राष्ट्रपति के साथ किया योग

  राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने अपने सूरीनाम के समकक्ष डेसिरे डेलाओ बोउटेर्सेल के साथ परमारिबो में योग किया। विदेश मंत्री सुषमा स्वराज यूरोपीय संसद परिसर में आयोजित उत्सव में शामिल हुई। चौथे अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर दुनिया भर में लोगों ने हिस्सा लिया। तीन देशों की यात्रा पर निकले राष्ट्रपति कोविंद अभी लातिन अमेरिकी देश सूरीनाम में हैं। उन्होंने और बोउटेर्सेल ने टी-शर्ट पहनकर योग करने वालों के साथ भाग लिया। इस मौके पर योग में भाग लेने आए जनसमूह से उन्होंने कहा, 'अंतरराष्ट्रीय योग दिवस उत्सव में भारत से 14,000 किलोमीटर दूर भाग लेकर अत्यंत प्रसन्नता हुई। परमारिबो में सूरीनाम के राष्ट्रपति बोउटेर्सेल ने भी हिस्सा लिया है। मैं सभी योगियों को धन्यवाद देता हूं जिन्होंने इसमें भाग लेकर कार्यक्रम को यादगार बनाया है।' पहली बार दो देशों के प्रमुखों ने अंतरराष्ट्रीय योग दिवस में हिस्सा लिया है। संयुक्त राष्ट्र महासभा ने दिसंबर 2014 में 21 जून को हर साल अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के रूप में मनाने की घोषणा की थी। ब्रुसेल्स में विदेश मंत्री स्वराज यूरोपीय संसद परिसर में योग दिवस उत्सव में शामिल हुई। नेपाल में राजधानी काठमांडू में स्थित नेपाली पुलिस प्रशिक्षण अकादमी के परिसर में विशेष योग का प्रदर्शन किया गया। यहां सुबह से हो रही भारी बारिश के बावजूद बड़ी संख्या में लोग भाग लेने पहुंचे। नेपाल के उपप्रधानमंत्री एवं रक्षा मंत्री ईश्वर पोखरेल के साथ भारतीय राजदूत मंजीव सिंह पुरी ने भी भाग लिया। जनकपुर स्थित जानकी मंदिर में हुए उत्सव में राज्यपाल रत्नेश्वर लाल कायस्थ और मुख्यमंत्री लालबाबू राउत ने भाग लिया।  

Dakhal News

Dakhal News 21 June 2018


pakistan

खबर न्‍यूयार्क से । दक्षिण वजीरिस्‍तान में पश्‍तून कार्यकर्ताओं की रैली पर पाकिस्‍तानी आर्मी द्वारा फायरिंग के खिलाफ पख्‍तून तहफ्फुज मूवमेंट (पीटीएम) ग्रुप के सदस्‍यों ने विरोध प्रदर्शन किया। प्रदर्शनकारियों ने संयुक्‍त राष्‍ट्र से पाकिस्‍तान आर्मी पर प्रतिबंध लागू करने की अपील की है। यह प्रदर्शन न्‍यूयार्क स्‍थिति संयुक्‍त राष्‍ट्र कार्यालय के बाहर हुआ और यह देश समर्थित तालिबान के खिलाफ भी था जो निर्दोष पख्‍तून पर हमले के लिए जिम्‍मेवार है। पाकिस्‍तानी सेना के खिलाफ पख्‍तूनों का गुस्‍सा लंबे समय से चल रहा है। पिछले सप्‍ताह दक्षिण वजीरिस्‍तान में शांतिपूर्ण रैली निकाले जाने के दौरान पाकिस्‍तान आर्मी के हमले में अनेकों पीटीएम कार्यकर्ता मारे गए। प्रदर्शनकारियों ने इस हमले की जांच करने की मांग की है और अंतरराष्‍ट्रीय समुदाय से हस्‍तक्षेप की मांग की है। पीटीएम कार्यकर्ताओं के साथ यह अभियान चलाया गया। प्रदर्शन के दौरान, कार्यकर्ताओं ने पाक आर्मी के चीफ आर्मी स्‍टाफ जनरल कमर जावेद बाजवा और सुरक्षाबलों की निंदा की। पाक आर्मी और बाजवा पर हमला बोलते हुए उन्‍होंने नारे लगाए। उनका कहना है कि पिछले कुछ बरसों में सेना की कार्रवाई में हजारों पख्‍तून लापता हो चुके हैं हजारों को बिना कोई मुकदमा चलाए मारा जा चुका है। पख्‍तूनों के खिलाफ पाकिस्तानी सेना लंबे समय से दमन चक्र चला रही है। पख्‍तून मानवाधिकारों को ताक पर रख दिया गया है। पिछले कई महीनों में समय-समय पर पाकिस्‍तानी सेना के खिलाफ पख्‍तूनों ने विरोध प्रदर्शन के साथ रैलियां निकाली हैं। पाकिस्तान के दूसरे सबसे बड़े जातीय समूह पख्‍तून लगातार अपनी सुरक्षा, नागरिक स्वतंत्रता और समान अधिकारों के लिए संघर्ष कर रहे हैं। इस बीच वॉयस ऑफ कराची के चेयरमैन नदीम नुसरत ने पिछले सप्‍ताह पाकिस्‍तानी सेना की कड़ी निंदा की थी। उन्‍होने कहा देश की सेना देश की सुरक्षा के लिए है कानून बनाने के लिए नहीं जो किसी को भी देशविरोधी करार दे सकती है।  

Dakhal News

Dakhal News 11 June 2018


अफगानिस्तान का तालिबान के साथ संघर्ष विराम

शांति प्रक्रिया की दिशा में एक अहम फैसला लेते हुए अफगानिस्तान सरकार ने ईद के मौके पर तालिबान के साथ संघर्ष विराम ऐलान किया है। हालांकि, इस्लामिक स्टेट समेत अन्य आतंकी संगठनों के खिलाफ कार्रवाई जारी रहेगी। राष्ट्रपति अशरफ गनी ने गुरुवार को अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से इसकी जानकारी देते हुए संकेत दिया कि 12 से 19 जून के बीच संघर्ष विराम जारी रह सकता है। हालांकि, अभी इस बात का पता नहीं चला है कि तालिबान इसके लिए तैयार है अथवा नहीं। यदि ऐसा होता है, तो 2001 में अमेरिकी हमले के बाद पहला मौका होगा, जब तालिबान के साथ सरकार का संघर्ष विराम रहेगा। तालिबान के प्रवक्ता जबीहुल्ला मुजाहिद ने बताया कि सरकारी प्रस्ताव का जवाब देने के लिए हम अपने अधिकारियों के साथ संपर्क में हैं। काबुल में एक मौलाना द्वारा लोगों को संबोधित करते हुए संघर्ष विराम की अपील करने और आत्मघाती हमलों के खिलाफ फतवा जारी करने के एक दिन बाद सरकार ने यह कदम उठाया है। हालांकि, मौलाना द्वारा फतवा जारी करने के एक घंटे बाद उसी सभा के बाहर आतंकियों ने आत्मघाती हमला कर दिया। इसमें सात लोगों की मौत हो गई। राष्ट्रपति गनी ने मौलाना द्वारा आत्मघाती हमले के खिलाफ फतवा जारी करने का समर्थन किया है। राष्ट्रपति कार्यालय ने एक बयान जारी कर कहा कि सरकार न सिर्फ फतवे का समर्थन करती है, बल्कि संघर्ष विराम के भी पक्ष में है।

Dakhal News

Dakhal News 7 June 2018


अब डेनमार्क में बुर्का पहनने पर रोक

डेनमार्क में सार्वजनिक स्थानों पर बुर्का पहनने पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। यहां की संसद ने इस संबंध में गुरुवार को एक कानून को स्वीकृति दे दी। इसमें सार्वजनिक स्थानों पर इस इस्लामिक पहनावे पर रोक लगा दी गई है। इसके उल्लंघन पर दंड के साथ जुर्माने का भी प्रावधान किया गया है। डेनमार्क की मीडिया के अनुसार, 75 सांसदों ने प्रतिबंध के पक्ष में वोट दिया। 30 सांसदों ने सार्वजनिक स्थलों पर बुर्का या नकाब पहनने पर प्रतिबंध लगाने का विरोध किया। हालांकि नए कानून के तहत सर्दी से बचने के लिए पहने जाने वाले कपड़ों पर रोक नहीं लगाई गई है। डेनमार्क में यह नया कानून एक अगस्त से प्रभावी हो जाएगा। डेनमार्क से पहले फ्रांस और आस्ट्रिया जैसे यूरोपीय देशों में इसी तरह के कदम उठाए जा चुके हैं। इन देशों ने भी सार्वजनिक स्थानों पर बुर्का जैसे पहनावे पर रोक लगा दी है।

Dakhal News

Dakhal News 1 June 2018


सिंगापुर और भारत के बीच व्यापर बढ़ेगा

  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दो दिवसीय सिंगापुर दौरे का आज अंतिम दिन है। पीएम मोदी और सिंगापुर के प्रधानमंत्री ली सिएन लूंग के बीच मुलाकात हुई। इस दौरान दोनों देशों की ओर से कई समझौतों पर हस्ताक्षर हुए। बताया जा रहा है कि सिंगापुर और भारत के बीच व्यापार को बढ़ावा देने के लिए करीब 14 समझौतों पर हस्ताक्षर हुए हैं। वार्ता के बाद दोनों देशों ने संयुक्त प्रेस वार्ता को संबोधित किया। इससे पहले शुक्रवार को इस्ताना में पीएम मोदी का औपचारिक स्वागत किया गया। इस दौरान उनके साथ सिंगापुर के स्वागत के बाद पीएम मोदी ने राष्ट्रपति हलिमा याकूब से शिष्टाचार भेंट की। सिंगापुर के प्रधानमंत्री ने कहा- 'हमने रक्षा संबंधों को मजबूत किया है, हमारी नौसेना ने आज लॉजिस्टिक्स सहयोग पर एक समझौते पर हस्ताक्षर किए हैं और इस वर्ष वार्षिक सिंगापुर-भारत समुद्री द्विपक्षीय अभ्यास की 25 वीं वर्षगांठ मनाएंगे।  पीएम ली सिएन लूंग ने कहा-'भारतीय पर्यटक चांगई हवाई अड्डे और सिंगापुर में कुछ खास ऑपरेटरों पर इलेक्ट्रॉनिक भुगतान के लिए अपने रुपे कार्ड का उपयोग करने में सक्षम होंगे"पीएम मोदी ने कहा- कल शाम सिंगापुर की महत्वपूर्ण कंपनियों के CEOs के साथ राउंड टेबल पर मुझे भारत के प्रति उनके विश्वास को देखकर बहुत प्रसन्नता हुई। भारत और सिंगापुर के बीच एयर ट्रैफिक तेजी से बढ़ रहा है। दोनों पक्ष शीघ्र ही द्विपक्षीय एयर सर्विस एग्रीमेंट की समीक्षा शुरू करेंगे। इससे पहले पीएम मोदी ने सिंगापुर के प्रधानमंत्री का आभार व्यक्त किया और कहा, उन्होंने (पीएम ली ने) हमेशा भारत के साथ संबंधों को मजबूत करने के लिए अथक प्रयास किए हैं।

Dakhal News

Dakhal News 1 June 2018


किसानों का गांव बंद

  देश में पहली बार शुक्रवार से मध्यप्रदेश ,हरियाणा समेत अन्य राज्यों के किसान 10 दिन की छुट्टी पर जा रहे हैं। किसान एक से 10 जून तक शहरों में फल-सब्जियों और दूध की सप्लाई नहीं करेंगे। किसानों ने इन 10 दिनों में शहर की दुकानों, शोरूम और सुपर बाजार का रुख नहीं करने का भी अहम निर्णय लिया है। अगर शहरी लोगों को फल-दूध या सब्जी चाहिए तो उन्हें गांवों का रुख करना पड़ेगा। दाम भी किसान ही तय करेंगे। किसान यह सब केंद्र व राज्य सरकारों की नीतियों के विरोध में कर रहे हैं। राष्ट्रीय किसान महासंघ के प्रतिनिधियों ने एक से 10 जून तक शहरों में दूध व फल-सब्जियों की आपूर्ति नहीं होने देने की रणनीति बनाई है। राष्ट्रीय किसान महासंघ के वरिष्ठ सदस्य व भारतीय किसान यूनियन के प्रदेश प्रधान गुरनाम सिंह चढूनी और प्रदेश प्रवक्ता राकेश कुमार ने बताया कि स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट लागू नहीं करने व कर्ज माफी नहीं होने पर किसानों को यह कदम उठाना पड़ रहा है। उन्होंने बताया कि 62 किसान संगठनों ने इस दौरान गांवों से शहरों को खाद्य पदार्थो की सप्लाई नहीं होने देने की पूरी रणनीति बना ली है। गुरनाम चढूनी और राकेश कुमार ने साफ किया कि इस बंद में वह कोई रोड जाम नहीं करेंगे। किसान अपने घर और गांव में बैठकर शहर और सरकार को अपना दर्द समझाएंगे। आंदोलन के दौरान किसान आढ़तियों से भी पूरी तरह दूरी बनाकर रखेंगे। किसानों द्वारा एक दूसरे से उधार लेकर 10 दिन तक आर्थिक लेन-देन किया जाएगा। जगह-जगह  दिखा किसान आंदोलन का असर  किसान आंदोलन का असर धीरे-धीरे छोटे-बड़े शहरों की मंडियों में दिखने लगा है। अपनी पूर्व घोषणा के मुताबिक किसानों ने कहा था कि वे अपनी उपज मंडियों में नहीं भेजेंगे, ऐसे में मंडियों में शुक्रवार को सामान्य से कम ही भीड़ नजर आई। कई मंडियों में किसान अपनी उपज लेकर नहीं पहुंचे और व्यापारियों ने पुराना स्टॉक किया माल ही बेचा। भोपाल की भी प्रमुख मंडियों में लोगों तक पुराना माल ही पहुंच रहा है। हालांकि लोगों ने एक दिन पहले से सब्जी और अन्य जरुरी सामानों का स्टॉक करना शुरू कर दिया था लेकिन आज भी कई लोग जब मंडियों में पहुंचे तो उन्हें ताजा माल नहीं मिला। किसान सब्जी, अनाज और अपनी उपज लेकर मंडियों में नहीं पहुंचे। पुराना माल होने के कारण भी बिक्री ज्यादा नहीं हुई। इधर होशंगाबाद ,पिपरिया में भी सब्जी मंडी में माल नहीं आया और 2 दिन पुरानी सब्जियां बिकीं। सब्जी मार्केट एसोसिएशन के अध्यक्ष आमीन राइन के मुताबिक बिक्री में 30 फीसदी गिरावट आई है और सब्जियां रोड़ पर ही बिक रही हैं। मंडियों में ज्यादा किसान नहीं पहुंचे हैं। दूध की सप्लाई पर फिलहाल असर नहीं है। बाजार के जानकारों के मुताबिक हड़ताल का असर 3 जून से नजर आएगा। इधर इटारसी मंडी में पुलिस ने किसानों से संवाद किया। एसपी मंडी क्षेत्र का जायजा ले रहे हैं। वहीं पिपरिया में कुछ लोगों को रोकने का प्रयास हुआ है। जगह-जगह पुलिस बल तैनात है। पुलिसकर्मियों की ड्यूटी रात 3 बजे से लगाई गई है। वहीं विदिशा में किसानों के बंद आंदोलन का खासा असर दिखाई दे रहा है। विदिशा शहर के बाहरी इलाकों में बंद आंदोलन कर रहे किसान सुबह से ही जमा हो गए थे और शहर में आने वाले दूध बेचने वालों को वापस गांव लौटा रहे थे। इस दौरान किसानों और दूध बेचने वालों के बीच मामूली विवाद की स्थिति भी बनीं। मौके पर पहुंची पुलिस ने मामला शांत कराया। हालांकि इस दौरान पुलिस की ओर से कोई कार्रवाई नहीं की गई। बंद आंदोलन से विदिशा में दूध की सप्लाई प्रभावित हुई है और आज कई जगह दूध की सप्लाई नहीं हो पाई।

Dakhal News

Dakhal News 1 June 2018


nsc

  मुंबई में हुए 26/11 आतंकी हमले को लेकर पाकिस्तान के पूर्व पीएम नवाज शरीफ द्वारा दिए गए बयान को पाकिस्तान की राष्‍ट्रीय सुरक्षा समिति (एनएससी) ने नकार दिया है। बयान को लेकर सोमवार को पाकिस्‍तान के प्रधानमंत्री शाहिद खाकन द्वारा बुलाई गई बैठक के बाद नवाज शरीफ के बयान को झूठा करार दे दिया गया। जियो टीवी के अनुसार, बैठक के बाद एनएससी ने कहा कि मुंबई हमलों को लेकर दिया नवाज शरीफ के बयान को नकारते हैं। उनका बयान पूरी तरह से झूठा और भ्रमित करने वाला है। इससे पहले रविवार को आईएसपीआर के मेजर जेनरल आसिफ गफूर ने ट्वीट किया- ‘सोमवार को प्रधानमंत्री शाहिद खाकन अब्बासी को उच्च अधिकार वाली एनएससी की बैठक बुलाने का सुझाव दिया गया है।’ यह ऐसा मंच है, जहां पाक सरकार और सेना का शीर्ष नेतृत्व राष्ट्रीय मुद्दों पर चर्चा करता है। डॉन न्‍यूजपेपर को दिए गए हाल के एक साक्षात्‍कार में नवाज ने कहा, ‘आतंकी संगठन सक्रिय हैं।‘ इन्‍हें ‘नॉन स्‍टेट एक्‍टर्स’ बोलते हुए नवाज ने बताया, ‘क्‍या इन्‍हें सीमा पार करने और मुंबई में 150 लोगों को मरने के लिए अनुमति देनी चाहिए? मुझे इस बारे में बताएं। हम इन ट्रायल को पूरा क्‍यों नहीं कर सकते?’ नवाज के इस तरह के बयान पर काफी हंगामा हो रहा है। बता दें कि एक मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, नवाज शरीफ ने पहली बार पाकिस्तान की उस नीति पर सवाल उठाए हैं जिसके तहत गैर-सरकारी तत्वों को सीमा पार करके मुंबई में लोगों को मारने की अनुमति दी गई। शरीफ का यह भी कहना था, 'हमने अपने आप को अलग-थलग कर लिया है। शहादतें देने के बावजूद हमारी बात नहीं मानी जा रही। अफगानिस्तान की बात मानी जा रही है, लेकिन हमारी नहीं। हमें इस पर विचार करना चाहिए।' क्रिकेटर से नेता बने इमरान खान ने एक ट्वीट में शरीफ को आज के जमाने का मीर जाफर करार दिया। पीटीआई क्रिकेटर से नेता बने इमरान ने कहा, नवाज शरीफ मौजूदा जमाने के मीर जाफर हैं, जिसने अपने लाभ के लिए मुल्क को गुलाम बनाने में अंग्रेजों की मदद की थी। वह गलत ढंग से अर्जित धन और विदेशों में अपने बेटे की कंपनियों के लिए देश के खिलाफ (भारत के प्रधानमंत्री) नरेंद्र मोदी की भाषा बोल रहे हैं। वह देश को नुकसान पहुंचाने के लिए पाकिस्तान के दुश्मनों का समर्थन कर रहे हैं। पीपीपी की नेता शेरी रहमान ने रविवार को नवाज शरीफ द्वारा दिए गए बयान को लेकर उनकी निंदा की और कहा कि वे मोदी का पक्ष ले रहे हैं। उन्‍होंने कहा, ‘पीपीपी नवाज शरीफ के बयान को खारिज करती है। क्‍या वे विश्लेषक हैं जो इस तरह का बयान दे रहे हैं? नवाज ने यह क्‍यों नहीं कहा कि मुंबई हमला मामले में पाकिस्‍तान की ओर से भारत को हरसंभव मदद देने की कोशिश की जा रही है।‘  

Dakhal News

Dakhal News 14 May 2018


आतंकी हाफिज सईद

2008 के मुंबई हमलों के मास्टर माइंड हाफिज सईद ने जमायत-उल दावा की राजनीतिक विंग मिल्ली मुस्लिम लीग (एमएमएल) के लिए प्रचार शुरू कर दिया। हालांकि संगठन को चुनाव आयोग ने मान्यता नहीं दी है, क्योंकि गृह विभाग से उसे अनापत्ति प्रमाण पत्र नहीं मिला है। हाफिज का कहना है कि पाक के शत्रु देश के प्रतिष्ठानों को आपस में लड़ाना चाहते हैं, जिससे उनके मंसूबे पूरे हो सकें। लाहौर से तकरीबन 400 किमी दूर स्थित हारुनाबाद में एक रैली में उनका कहना था कि हमें उनके एजेंडे को फेल करने के लिए एक रहना होगा। उनके साथ सैनिक तानाशाह रहे जनरल जियाउल हक के बेटे इजाजुल हसन भी मौजूद थे। सईद ने कहा कि पाक सरकार को अपनी भारत नीति में परिवर्तन करना चाहिए। उसने इस बात की पुष्टि की कि 2018 का आम चुनाव उनकी पार्टी एमएमएल के बैनर तले लड़ेगी। उनका दावा है कि वह पाक की आर्थिक स्थिति को सबल बनाने के लिए काम करना चाहते हैं। गौरतलब है कि सईद आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा का प्रमुख रहा है। अमेरिका ने उसे व उसके संगठन को प्रतिबंधित कर दिया तो उसने जमायत-उल-दावा के जरिये अपना काम काज शुरू कर दिया। अमेरिका ने उसे वैश्विक आतंकी की अपनी सूची में शुमार कर रखा है। अमेरिकी ने पिछले माह एमएमएल को भी को विदेशी आतंकी संगठन करार दिया था। उसका कहना है कि लश्कर-ए-तैयबा के सदस्यों ने इसका गठन किया है।  

Dakhal News

Dakhal News 7 May 2018


न्यूयॉर्क कोर्ट में जज बनीं भारतवंशी दीपा

  अमेरिका में भारतवंशी महिला दीपा अंबेकर (41) को न्यूयॉर्क सिटी के सिविल कोर्ट में कार्यवाहक जज नियुक्त किया गया है। अंबेकर न्यूयॉर्क में जज बनने वाली दूसरी भारतवंशी महिला हैं। उनसे पहले 2015 में चेन्नई में जन्मीं राज राजेश्वरी को आपराधिक अदालत में न्यायाधीश नियुक्त किया गया था। न्यूयॉर्क के मेयर बिल दे ब्लासियो ने अंबेकर के साथ पारिवारिक अदालत के तीन जजों की दोबारा नियुक्ति की घोषणा की। ब्लासियो ने कहा, "प्रत्येक न्यूयार्क वासी को निष्पक्ष और उचित न्याय पाने का अधिकार है। मुझे भरोसा है कि ये चारों जज सुनिश्चित करेंगे कि अदालत का दरवाजा खटखटाने वाले हर शख्स को इंसाफ मिले।" अंबेकर ने मिशिगन यूनिवर्सिटी से अंडर ग्रेजुएट डिग्री लेने के बाद रटगर्स लॉ स्कूल से कानून में स्नातक की डिग्री हासिल की। उन्होंने तीन साल तक न्यूयॉर्क सिटी काउंसिल में सीनियर लेजिस्लेटिव अटॉर्नी के तौर पर भी काम किया। भारतवंशी वकील निशा अग्रवाल (40) को न्यूयॉर्क के डिप्टी मेयर फिल थॉम्पसन का वरिष्ठ सलाहकार नियुक्त किया गया है। आव्रजन नीति में बदलाव की लड़ाई लड़ रहीं निशा ब्रेन कैंसर से जूझ रही हैं। निशा आव्रजन, लोकतंत्र और स्वास्थ्य क्षेत्र में सुधार के लिए बनाए जा रहे कार्यक्रमों में सलाहकार की भूमिका निभाएंगी।

Dakhal News

Dakhal News 5 May 2018


laden

  पाकिस्तान के एबटाबाद में अलकायदा सरगना ओसामा बिन लादेन को मार गिराने के अभियान से जुड़ी एक नई जानकारी सामने आई है। लादेन को गोली मारने वाले अमेरिकी नेवी सील के कमांडो रॉब ओ नील ने कहा, लादेन के गढ़ में पहुंचने पर कमांडो को लगा था कि यह ऑपरेशन उनका आखिरी ऑपरेशन होगा। मालूम हो कि लादेन को अमेरिकी सैनिकों ने पाकिस्तान में घुसकर 2 मई 2011 को मार गिराया था। इस ऑपरेशन की सातवीं वर्षगांठ पर नील ने कहा, "हमारे दल में शामिल सभी कमांडो मान चुके थे कि वह मरने वाले हैं। उन्होंने अपने घर वाले को अलविदा भी कह दिया था। उस वक्त यह एक गर्व की बात थी। ऐसी टीम का हिस्सा होना मेरे लिए सम्मानजनक है।" एक साक्षात्कार में नील ने कहा, मिशन पूरा कर जब हम सभी हेलीकॉप्टर में वहां से निकले तब लगा कि हमारी जान बच सकती है। पायलट ने संदेश दिया कि हम अफगानिस्तान में हैं। यह सुनने के बाद लगा कि हमने कर दिखाया।"  

Dakhal News

Dakhal News 3 May 2018


आंधी-तूफान का कहर

  प्रचंड गर्मी के बीच बुधवार को देश के कुछ हिस्सों खासकर दिल्ली, यूपी व राजस्थान में आंधी व बारिश का कहर बरपा। कुदरत की इस अफत में अलग-अलग राज्यों में कुल 95 लोगों की मौत हो गई वहीं सैकड़ों घायल हैं। इसके अलावा पेड़ और मकान गिरने से लोगों को भारी नुकसान उठाना पड़ा है। तूफान के चलते यूपी में जहां अब तक 36 तो वहीं राजस्थान में आंधी से 22 लोगों की मौत हो गई वहीं 100 से ज्यादा घायल हैं। उधर पश्चिम बंगाल और झारखंड में वज्रपात से 15 लोगों की जान चली गई। राजधानी में बुधवार शाम 4.45 से 4.47 तक मात्र दो मिनट चली आंधी ने शहर को झकझोर दिया। इस दौरान हवा की रफ्तार 59 किमी प्रति घंटा रही। दो अंतरराष्ट्रीय उड़ानों समेत 15 फ्लाइट को डायवर्ट किया गया। कुछ जगह पेड़ गिरने से ट्रैफिक बाधित हो गया। जबकि संसद मार्ग, लाजपत नगर व द्वारका में 7.40 बजे के बाद तेज बारिश हुई। सफदरजंग मौसम केंद्र ने 13.4 मिमी बारिश दर्ज की। बुधवार को आये आंधी-तूफान में मरने वालों की संख्या 36 पहुंची, डीएम गौरव दयाल ने की पुष्टि। मृतकों की बड़ी संख्या को देखते हुए पोस्टमार्टम हाउस में मजिस्ट्रेट की ड्यूटी लगाई गई। डॉक्टरों की विशेष टीम गठित की गई है। हंगामे की आशंका के चलते सुरक्षा व्यवस्था भी की गई है। इसी तरह एसएन इमरजेंसी और जिला अस्पताल के डॉक्टरों को सतर्क कर दिया गया है। आंधी-तूफान से आगरा के ताजमहल को नुकसान पहुंचा। रॉयल गेट पर लगा 12 फीट ऊंचा और दक्षिण गेट पर लगा 8 फीट ऊंचा पिलर टूटकर गिर पड़ा। सरहिदी बेगम के मकबरे की छत का गुलदस्ता भी नीचे आ गया। राजस्थान के अलवर, भरतपुर और धौलपुर जिलों में बुधवार देर शाम जबर्दस्त आंधी चली। इसमें जानमाल का भारी नुकसान हुआ। 22 लोगों की मौत हो गई और 100 से ज्यादा घायल हो गए। मृतकों में चार अलवर में, सात भरतपुर और दो धौलपुर के बताए जा रहे हैं। जानकारी के अनुसार, अलवर में रात करीब पौने आठ बजे अंधड़ आया और पूरे अलवर, भरतपुर, धौलपुर इलाके में छा गया। इसकी गति इतनी तेज थी कि सड़क पर खड़े वाहन पलट गए। बताया जा रहा है कि करौली-भिवाड़ी को जोड़ने वाले स्टेट हाईवे पर गाड़ियों से भरा एक ट्रक ही पलट गया। पूरे इलाके में करीब डेढ़ घंटे तक बारिश हुई और ग्रामीण इलाकों में काफी नुकसान हुआ। अलवर के पास एक टोल प्लाजा पूरी तरह धराशायी हो गया। बीते 24 घंटों में आंध्र के कुछ शहरों में भारी बारिश हुई। अचानक बारिश से 18 से ज्यादा मौतों की खबर है। विशाखापत्तनम, विजयनगरम, श्रीकाकुलम, मलकापुरम आदि क्षेत्रों में भारी वर्षा का जनजीवन पर असर पड़ा। पश्चिम बंगाल के विभिन्न जिलों में बुधवार को बारिश व आंधी के दौरान वज्रपात व दीवार गिरने से 10 लोगों की मौत हो गई। जबकि कई लोग जख्मी को गए। आठ लोगों की मौत बिजली गिरने से, वहीं दो लोगों की मौत दीवार गिरने होने की खबर है। उधर झारखंड में मंगलवार और बुधवार को आंधी के बीच बेमौसम बारिश से रांची के आसपास के जिलों में जान-माल की क्षति हुई। वज्रपात से राज्य में सात लोगों की मौत हो गई। पंजाब में बुधवार को कई जिलों में तेज तूफान के साथ बारिश हुई। हालांकि, लुधियाना, जालंधर और अमृतसर शहर बारिश से अछूते रहे। इनके आसपास के क्षेत्रों में जमकर बारिश हुई। पटियाला व संगरूर में दिन में ही अंधेरा छा गया। पटियाला की रिशी कॉलोनी में एक प्लॉट की दीवार गिरने से प्लॉट मालिक हरमिंदर सिंह व एक श्रमिक राजू की मौत हो गई। बरनाला व रूपनगर में मंडियों में रखी गेहूं भीग गई। उत्तराखंड के चमोली जिले के नारायणबगड़ में बादल फटने से कई दुकानें और मकानों को नुकसान पहुंचा है, हालांकि इसमें किसी के हताहत होने की कोई खबर नहीं है। उत्तराखंड में नैनीताल, अल्मोड़ा, देहरादून, हरिद्वार समेत प्रदेश के कई हिस्सों में शाम को धूल भरी आंधी के साथ बारिश हुई। उधर, बदरीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री व यमनोत्री में बारिश होने से श्रद्धालुओं को ठंड का सामना करना पड़ रहा है। वहीं हिमाचल प्रदेश में बुधवार को अधिकांश क्षेत्रों में बारिश दर्ज की गई जबकि कुछ क्षेत्रों में ओलावृष्टि से फसलों को नुकसान पहुंचा। दूसरी ओर भीषण गर्मी से जूझ रहे जम्मू कश्मीर में बुधवार को कुछ जगहों पर धूल भरी आंधी और तेज बारिश के कारण थोड़ी राहत मिली।  

Dakhal News

Dakhal News 3 May 2018


शिवराज सिंह चौहान

  मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान ने नई दिल्ली में प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी से उनके निवास पर मुलाकात की। मुलाकात के दौरान यूनाइटेड अरब अमीरात का प्रतिनिधि-मंडल भी मौजूद था। बैठक प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की अगुवाई में बुलाई गयी थी, जिसमें मध्यप्रदेश, गुजरात और महाराष्ट्र राज्य के मुख्यमंत्रियों को चर्चा के लिए बुलाया गया था। बैठक में यू.ए.ई. के साथ इन राज्यों में व्यापार की संभावनाओं पर विचार किया गया।  बैठक में मध्यप्रदेश द्वारा प्रजेन्‍टेशन के माध्यम से प्रदेश में उद्योग, कृषि और व्यापार की अपार संभावनाओं के बारे में विस्तार से बताया गया। साथ ही निर्यात की संभावनाओं को भी तलाशा गया। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बताया कि मध्यप्रदेश में पिछले कई वर्षों से कृषि उत्पादन दर 20 प्रतिशत से अधिक रही है। शरबती गेहूँ, दालों और मसालों का रिकार्ड उत्पादन हुआ है। उद्यानिकी के क्षेत्र में भी मध्यप्रदेश ने कीर्तिमान स्थापित किये हैं। श्री चौहान ने कहा कि यू.ए.ई. से हमारे देश के बेहतर संबंध रहे हैं।  मुख्यमंत्री ने आशा व्यक्त की कि संबंधों को और अधिक मजबूत बनाने की दिशा में इस बैठक से नई कड़ी जुड़ेगी। मध्यप्रदेश में कृषि निर्यात प्रमोशन एजेंसी श्री चौहान ने बताया कि मध्यप्रदेश सरकार ने कृषि निर्यात प्रमोशन एजेंसी बनाई है, जो प्रदेश के उत्पादों का अन्य देशों में निर्यात करने की संभावनाएँ तलाशेगी। इसके लिए राज्य सरकार ने एक टास्क फोर्स गठित की है, जिसमें राज्य सरकार और यू.ए.ई. के पाँच-पाँच सदस्य होंगे। यह फोर्स प्रदेश भर में कार्यशालाएँ आयोजित करेगा और निर्यात किये जाने वाले उत्पादों की संभावनाओं को तलाशेगा। इसके साथ ही यू.ए.ई. से एक कांट्रेक्ट फार्मिंग करारनामा किया गया है, जिसके तहत किसान अपने उत्पाद को मण्डी के बाहर भी सीधा विदेशों में निर्यात कर सकता है। मुख्यमंत्री ने बताया कि राज्य सरकार ने इंदौर के पास विशेष निर्यात जोन (एस.ई.जेड) खोलने का प्रस्ताव दिया है। जोन में विभिन्न प्रकार के करों में छूट दी जायेगी। राज्य सरकार द्वारा खाद्य प्र-संस्करण की नीति बनाकर केबिनेट से पारित करवाई गई है। नीति के जरिये किसान खाद्य प्र-संस्करण यूनिट खोल सकेंगे, अपने उत्पादों को निर्यात कर सकेंगे और मुनाफा कमा सकेंगे।  28 मई से 9 जून तक प्रदेश में किसान कार्यशालाएँ मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बताया कि आगामी 28 मई से 9 जून तक प्रदेश के विभिन्न अंचलों में किसानों की कार्यशाला आयोजित की जायेगी। कार्यशालाओं में किसानों को योजनाओं के बारे में जानकारी दी जायेगी, ताकि वे योजनाओं का भरपूर फायदा प्राप्त कर सकें।    

Dakhal News

Dakhal News 3 May 2018


modi

  दो दिवसीय चीन दौरे पर गए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को वुहान में चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग से मुलाकात की। इस दौरान दोनों देशों के बीच शीर्ष स्तरीय छह-छह सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल के साथ वार्ता हुई। इस वार्ता में पीएम मोदी ने 2019 में इस तरह का सम्मेलन भारत में करने की इच्छा जताते हुए कहा कि दोनों देश दुनिया की आबादी का 40 प्रतिशत हैं। हम साथ मिलकर दुनिया कि कई समस्याओं का समाधान कर सकते हैं। इस दिशा में साथ काम करना हमारे लिए एक अच्छा अवसर है। पीएम ने आगे कहा कि भारत के लोग इस बात पर गर्व करते हैं कि मैं पहला प्रधानमंत्री हूं जिसके स्वागत के लिए चीनी राष्ट्रपति दो बार अपनी राजधानी से बाहर आए। मुझे उम्मीद है कि इस तरह की अगली अनौपचारिक बैठक 2019 में भारत में होगी। इससे पहले पीएम मोदी और चीनी राष्ट्रपति की हुबई प्रंतीय संग्रहालय में मुलाकात हुई। गर्मजोशी से मिले दोनों नेताओं के हैंडशेक के बाद पीएम मोदी का यहां पारंपरिक नृत्य और संगीत के साथ स्वागत किया गया। इसके बाद दोनों ने आपस में बात की। इस दौरान पीएम मोदी ने कहा कि भारत और चीन दोनों देशों की संस्कृति नदियों के किनारे ही विकसित हुई। अगर भारत में हम हड़प्पा और मोहनजोदाड़ो की बात करें तो यह दोनों सभ्यताएं नदी कि किनारों पर ही विकसित हुई हैं। वहीं उन्होंने थ्री जॉर्ड डैम की तारीफ करते हुए कहा कि जब में गुजरात का मुख्यमंत्री था तब मुझे वुहान आने का मौका मिला था। मैंने थ्री जॉर्ज डैम के बारे में काफी कुछ सुना था कि किस तरह आपने उसे बनाया। इसने मुझे काफी प्रभावित किया और मैं यहां एक दिन के स्टडी टूर पर आया था। इस दो दिवसीय अनौपचारिक शिखर सम्मेलन में विभिन्न मुद्दों पर बातचीत होगी और दोनों ही एक-दूसरे के साथ काफी समय बिताएंगे। दोनों नेताओं के बीच कम से कम दो बार द्विपक्षीय मुद्दों पर अकेले में बात होगी जबकि एक बार शीर्ष स्तरीय छह-छह सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल के साथ वार्ता होगी। इस अनौपचारिक वार्ता में ना तो किसी समझौते पर दस्तखत किए जाएंगे और ना ही कोई संयुक्त वक्तव्य जारी किया जाएगा। इस वार्ता में आपसी रिश्तों से जुड़े हर मुद्दे को उठाया जाएगा और अहम समस्याओं का स्थाई समाधान निकालने पर ज्यादा ध्यान दिया जाएगा। प्रधानमंत्री शुक्रवार को जिनपिंग के साथ लंच करेंगे जिसके बाद दोनों के बीच अकेले में बैठक होगी। इसके बाद रात्रि में दोनों चर्चित ईस्ट लेक के किनारे डिनर करेंगे। साथ ही नौका विहार का कार्यक्रम भी है। चीन रवाना होने से पहले पीएम मोदी ने ट्वीट कर लिखा कि "मैं और राष्ट्रपति चिनफिंग द्विपक्षीय और वैश्विक महत्व के तमाम विषयों पर विचारों का आदान-प्रदान करेंगे। हम खास तौर पर मौजूदा वैश्विक परिवेश के संदर्भ में राष्ट्रीय विकास के मुद्दों पर अपनी प्राथमिकताओं के बारे में भी बात करेंगे। हम रणनीतिक व लंबी अवधि के परिप्रेक्ष्य में भारत-चीन रिश्तों पर बात करेंगे।" मोदी ने जिन लंबी अवधि के लक्ष्यों की बात कही है उसमें रणनीतिक व आर्थिक दोनों होंगे। इसमें चीन की महत्वाकांक्षी बॉर्डर रोड इनिशिएटिव (बीआरआई- विभिन्न देशों को इंफ्रास्ट्रक्चर परियोजनाओं से जोड़ने की योजना), भारत-चीन सीमा का स्थाई समाधान निकालना, भारत के साथ व्यापार घाटे को कम करने जैसे मुद्दे भी होंगे। ये तीन ऐसे मसले हैं जिनकी वजह से आपसी रिश्तों में सबसे ज्यादा तल्खी है। माना जाता है कि उन तीनों मुद्दों पर जितना ज्यादा ये देश आपसी सहमति विकसित करेंगे रिश्तों को सामान्य बनाने में उतनी ही मदद मिलेगी। मोदी-चिनफिंग की वार्ता का स्थल भी अनौपचारिक होगा। गुरुवार को लंच के बाद वुहान स्थित हुबेई प्रांतीय संग्रहालय में दोनों नेता मिलेंगे। वुहान में चीन के पूर्व क्रांतिकारी नेता माओ जेडोंग से जुड़ी कई इमारतें हैं। मोदी को चिनफिंग उन इमारतों की सैर कराएंगे। रात में माओ की पसंदीदा झील ईस्ट लेक के किनारे दोनों नेता वार्ता करेंगे और वहीं रात्रिभोज भी होगा। आधिकारिक सूत्रों का कहना है कि शनिवार की सुबह झील के किनारे दोनों नेता फिर चहलकदमी करते हुए बातचीत करेंगे। नौका विहार करेंगे और लंच के समय तक वार्ता का समापन होगा। चीन की सरकार पहले ही कह चुकी है कि मोदी का उनकी उम्मीद से भी बेहतर तरीके से स्वागत किया जाएगा। वैसे, अहमदाबाद में चिनफिंग की आगवानी का भारत-चीन के रिश्तों पर कोई बहुत सकारात्मक असर नहीं पड़ा था। असलियत में उसके बाद रिश्तों में काफी उतार देखा गया। लेकिन इस बार दोनों पक्ष उम्मीद लगा रहे हैं कि हाल के महीनों में हर मुद्दों पर जो तनातनी का माहौल बना था उसे अब दूर किया जा सकेगा।

Dakhal News

Dakhal News 27 April 2018


जैन धर्म से 1200 जापानी बने शाकाहारी

  जापानी नागरिकों में जैनधर्म के प्रति आकर्षण बढ़ रहा है। गुजरात के जैन तीर्थों पर आकर बड़ी संख्या में जापानी शाकाहारी बन रहे हैं। 5 साल में प्रदेश के हस्तनापुर, पालिताणा और शंखेश्वर जैनतीर्थों के दर्शन के बाद 1200 जापानी मांसाहारी से शाकाहारी बन गए हैं। इतना ही नहीं, 8 साल के बच्चे से लेकर 30 साल के जापानी युवक-युवतियां पालिताणा आकर दीक्षा महोत्सव में हिस्सा ले रहे है और जैन धर्म के नियमों का पालन कर रहे हैं। ये नवकार मंत्रों का उच्चारण भी करना सीख रहे हैं। भारतीय मूल की जापानी नागरिक तुलशी के मुताबिक, भारत में जैन तीर्थों की यात्रा करने से परम शांति का अहसास हो रहा है। एक अन्य जापानी नागरिक ने बताया, पहले उसका परिवार मांसाहारी था, लेकिन जब वह जापान में जैन धर्म का पालने करे वालों के संपर्क में आया, तब से उसका परिवार शाकाहारी बन गया है। उसके दो बेटे रोज सुबह नवकार मंत्र का पाठ करते हैं।

Dakhal News

Dakhal News 27 April 2018


अब कश्मीर में चलेगी ग्लास सीलिंग वाली ट्रेन

कश्मीर घाटी में बर्फ से ढंके पहाड़ों और दिल को छू लेने वाले नजारों को देखने का एक अलग ही अनुभव आपको जल्द मिलने वाला है। भारतीय रेलवे इस जगह आपको ऐसा अनुभव देने की तैयारी कर रही है, जिसे आप कभी नहीं भुला पाएंगे। इसके लिए रेवले कश्मीर रेल लाइन पर शीशे की छत वाले कोच चलाने को तैयार है। अधिकारियों ने कहा कि जम्मू-कश्मीर के लिए पिछले साल जून में घोषित विस्टाडोम कोच पहले से ही पहुंच चुका है और इसे मई में ट्रैक पर चलाया जाएगा। अधिकारियों ने बताया कि 40 सीटों का कोच यात्रियों को सुखद अनुभव प्रदान करेगा। आईआरसीटीसी ने जम्मू-कश्मीर पर्यटन विभाग के सहयोग से ग्लास कोच पेश किया है। कश्मीर में विस्टाडोम कोच, मुंबई और गोवा के बीच अराकू घाटी और पश्चिमी घाटों में सफल प्रदर्शन के बाद लाए जा रहे हैं। एसी कोच में बड़े ग्लास की खिड़कियों, कांच की छत, ऑब्जर्वेशन लाउंज और घूमने वाली सीटें लगी होंगी। जो यात्रियों को बारामुल्ला से बनिहाल तक के 135 किमी रेल ट्रैक के रास्ते में लुभावने नजारे और सुंदर प्रकृति को देखने का बेहतरीन अनुभव देंगी। इन कोचों के कोच में ऐसी सीट्स (डबल वाइड रिक्लाइनिंग सीट्स) लगी होंगी, जिससे चारों ओर से बेहतरीन पैनारोमिक व्यू को देखने के लिए 360 डिग्री घुमाया जा सकता है। इस ट्रेन में कांच की छत, स्वचालित स्लाइडिंग दरवाजे, सामान रखने की रैक, मनोरंजन के लिए एलईडी स्क्रीन और जीपीएस सूचना प्रणाली भी लगी हुई है। शुरुआत में 40 सीट वाला एक कोच ट्रेन से जोड़ा जाएगा। बाद में यात्रियों की प्रतिक्रिया के बाद दूसरों कोच लगाने का फैसला किया जाएगा। राज्य पर्यटन विभाग स्थानीय ट्रैवल एजेंटों को भी इसमें शामिल करने की भी योजना बना रहा है, जो कश्मीर आने वाले यात्रियों के लिए पैकेज को कस्टमाइज कर सकते हैं। बताया जा रहा है कि आईआरसीटीसी ने पर्यटकों को आकर्षित करने के लिए ऐसे 60 कोच बनाने का आदेश दिया है। पिछले साल, रेल मंत्रालय ने मुंबई-गोवा मार्ग पर एक सी-थ्रू विस्टाडोम कोच पेश किया था। ग्लास कोच के अलावा, रेलवे ने पर्यटकों को आकर्षित करने के लिए वातानुकूलित कोच को माउंटेन रेलवे में चलाने का फैसला किया है। रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने अप्रैल 2017 को आंध्र प्रदेश में एसी विस्टाडोम कोच वाली देश की पहली ट्रेन को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया था। ये विशाखापट्टनम से किरंदुल के बीच चली थी। सफर के दौरान ट्रेन हिल स्टेशन अराकू घाटी से भी गुजरी। विस्टाडोम का यह कोच वातानुकूलित था और इसे खासतौर पर डिजाइन किया गया है। इसके बारे में यह दावा किया जा रहा है कि यह भारतीय रेलवे में अपनी तरह का पहला है। रेलवे ने बताया है कि प्रायोगिक आधार पर ट्रेन में इस तरह का एक कोच लगाया गया है, जबकि अन्य कोच जल्द लगाएं जाएंगे। तब प्रभु ने कहा था कि कहा कि विस्टाडोम कोचों को देश में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए पहली बार शामिल किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि पूर्वोत्तर में भी एक ही मार्ग पर इसी तरह का कोच बाद में लगाया जाएगा। अब इसकी सफलता को देखते हुए अब इसे कश्मीर में भी चलाया जा रहा है।  

Dakhal News

Dakhal News 23 April 2018


उत्तर कोरिया

उत्तर कोरिया में हुए एक भीषण सड़क हादसे में 30 लोगों की मौत हो गई है। यह हादसा देश के हुआंगहाइ रोड पर रविवार को हुआ जब एक टूअर बस दुर्घटनाग्रस्त हो गई। अब तक मिली रिपोर्ट्स के अनुसार हादसे के वास्तविक कारणों का खुलासा फिलहाल नहीं हो पाया है लेकिन कहा जा रहा है कि सड़क पर रिनोवेशन के काम और खराब मौसम इसके लिए जिम्मेदार हैं। हादसे में मारे गए लोगों में बीजिंग स्थित चीनी यात्रा कंपनी का समूह शामिल है। उत्तर कोरिया में चीनी दूतावास ने इस दुर्घटना की पुष्टि की है। उन्होंने कहा कि नॉर्थ कोरिया द्वारा चीनी दूतावास को हुआंगहुई रोड पर हुए भीषण हादसे की जानकारी दी गई है। इसमें ज्यादातर चीनी पर्यटकों के मारे जाने की सूचना है। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार नॉर्थ कोरिया में सबसे ज्यादा चीनी पर्यटक आते हैं जो देश में आने वाले कुल विदेशी पर्यटकों का 80 प्रतिशत होते हैं।  

Dakhal News

Dakhal News 23 April 2018


 ब्रिटिश पीएम और प्रिंस चार्ल्‍स से मिले मोदी

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी अपनी तीन देशो की यात्रा के दूसरे पड़ाव में लंदन पहुंचे। हीथ्रो एयरपोर्ट पर ब्रिटिश विदेश मंत्री ने पीएम मोदी का स्वागत किया। प्रधानमंत्री नेे आज ब्रिटिश प्रधानमंत्री थेरेसा मे से मुलाकात की। दोनों के बीच द्विपक्षीय वार्ता हुई। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लंदन में प्रिंस चार्ल्स से मुलाकात की। लंदन में चल रही विज्ञान प्रदर्शनी देखने प्रिंस चार्ल्स के साथ मोदी पहुंचे हैं, जहां भारत के 5000 सालों की वैज्ञानिक उपलब्धियों और आविष्कारों को दर्शाया गया है। इस दौरान ब्रिटिश और भारतीय मूल के वैज्ञानिकों से भी पीएम मिलेंगे। प्रधानमंत्री मोदी की दूसरी ब्रिटेन यात्रा के दौरान दोनों देशों के बीच आयुर्वेदिक चिकित्सा पर भी समझौते पर दस्तखत होंगे। पीएम मोदी की उपस्थिति में अखिल भारतीय आयुर्वेद संस्थान और ब्रिटेन के कॉलेज ऑफ मेडिसिन के बीच अनुबंध पर मुहर लगाई जाएगी। द्विपक्षीय कार्यक्रमों की ही कड़ी में प्रधानमंत्री मोदी और ब्रिटेन की प्रधानमंत्री थेरेसा मे क्रिक संस्थान में आयोजित होने वाले कई कार्यक्रमों में भी भाग लेंगे। प्रधानमंत्री कैंसर और मलेरिया इलाज शोध में लगे वैज्ञानिकों से भी मिलेंगे। साथ ही दोनों देशों के आला सीईओ भी बैठक करेंगे। द्विपक्षीय बातचीत के दौरान भारत के भगोड़े अपराधियों की वापसी के संबंध में भी चर्चा की उम्मीद है। भारतीय पीएम मोदी के साथ मुलाकात पर ब्रिटिश पीएम थेरेसा मे ने कहा- मुझे उम्मीद है कि हम भारत और ब्रिटेन दोनों देशों के लोगों के लिए एक साथ मिलकर काम करेंगे। वहीं पीएम मोदी ने कहा कि- मैं इस बात से आश्वस्त हूं कि आज की मुलाकात के बाद दोनों देशों के रिश्तों में एक नई उर्जा आएगी। मुझे खुशी है कि ब्रिटेन अंतरराष्‍ट्रीय सौर गठबंधन का हिस्सा बनने जा रहा है। मुझे विश्वास है कि ये सिर्फ क्लाइमेट चेंज के लिए लड़ाई नहीं है बल्कि भावी पीढ़ी के लिए भी हमारी लड़ाई है। पीएम मोदी ने ये भी कहा कि ये मेरे लिए खुशी की बात है कि भगवान बसावेश्वर की जयंती पर मैं यहां के लोगों से मिलने जा रहा हूं। पीएम ने स्वीडन में कहा कि भारत में रिफॉर्म नहीं, ट्रांसफॉर्मेशन हो रहे हैं स्टॉकहोम में अपने भाषण के दौरान पीएम मोदी ने अपनी सरकार की जमकर उपलब्धियां गिनाईं, उन्होंने मुद्राधन योजना से लेकर आयुष्मान भारत तक की कई योजनाओं के बारे में बताया। उन्होंने कहा, 'स्वीडन में मेरे और मेरे डेलीगेशन के स्वागत-सत्कार के लिए यहां की जनता और सरकार का, विशेष रूप से स्वीडन के राजा और स्वीडन के प्रधानमंत्री श्रीमान लवेन का, मैं हृदय से आभार व्यक्त करना चाहता हूं।' मोदी ने कहा कि लवेन उन्हें एयरपोर्ट पर रिसीव करने आए और बाद में होटल तक छोड़ने भी गए। पीएम मोदी ने कहा पिछले 4 वर्षों में हमारे द्वारा एक के बाद एक ऐसे कदम उठाए गए हैं, जिनसे भारत में दुनिया की आशा और विश्वास बढ़े हैं। पीएम ने कहा कि भारत अब परिवर्तन के दौर से गुजर रहा है। भारत में रिफॉर्म नहीं, ट्रांसफॉर्मेशन हो रहे हैं और हम भारत को ट्रांसफॉर्म करके रहेंगे। मैरी कॉम और साइना जैसी बेटियों की सफलता पर हम सबका सीना गर्व से चौड़ा हो जाता है।' प्रधानमंत्री ने कहा, 'आज भारत परिवर्तन के दौर से गुजर रहा है। सबका साथ सबका विकास के ध्येय के साथ चार साल पहले हमें अभूतपूर्व बहुमत मिला था और हमने इसके लिए भरसक प्रयास किया है। हमने भारत का सम्मान बढ़ाने में कोई कसर नहीं रखी है। चाहे योग दिवस हो, आयुर्वेद हो या प्रकृति के साथ विकास का दर्शन हो, आपका साथ भारत को विश्व में एक लीडर को तौर पर स्थापित कर रहा है।'

Dakhal News

Dakhal News 18 April 2018


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

  अपने यूरोप दौरे के पहले चरण में स्वीडन पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को औपचारिक स्वागत के बाद स्वीडन के राजा कार्ल XVI गुस्तफा से मुलाकात की। इस मुलाकात में दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय सहयोग बढ़ाने पर चर्चा हुई। किंग से मुलाकात के बाद पीएम मोदी और स्वीडिश प्रधानमंत्री के बीच द्विपक्षीय वार्ता हुई। इससे पहले सोमवार देर रात स्टॉकहोम एयरपोर्ट पर पीएम मोदी का स्वागत करने के लिए खुद स्वीडिश पीएम स्टीफन लॉवेन प्रोटोकॉल तोड़कर पहुंचे थे। उन्होंने बड़ी गर्मजोशी से पीएम मोदी का स्वागत किया। इसके बाद पीएम मोदी ने उन्हे देखने और स्वागत करने एयरपोर्ट पर आए भारतीय समुदाय के लोगों से भी मुलाकात की। पीएम को देखते ही एयरपोर्ट पर मोदी-मोदी गूंजने लगा। 30 साल में पहली बार है जब कोई भारतीय पीएम स्वीडन की यात्रा पर पहुंचा है। पीएम मोदी के इस दौरे पर दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय संबंधों को गहरा बनाने के साथ ही विभिन्न क्षेत्रों में निवेश को लेकर सहमति बन सकती है। पीएम मोदी आज कई बैठकों में शामिल होंगे। इसके बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कॉमनवेल्थ देशों की बैठक में हिस्सा लेने के लिए ब्रिटेन रवाना हो जाएंगे।  

Dakhal News

Dakhal News 17 April 2018


पाकिस्तान और अफगान सैनिक भिड़े, 6 की मौत

  अफगानिस्तान और पाकिस्तान की सीमा पर दोनों देशों के जवानों की आपस में भिड़ंत हो गई। बताया जा रहा है कि पाकिस्तानी सेना सीमा पार कर पूर्वी अफगानिस्तान के खोस्त प्रांत में घुस गई थी। इस पर अफगान सेना ने भी मोर्चा संभाला और जवाबी कार्रवाई शुरू कर दी। दोनों ओर से गोलीबारी में कम से कम छह लोगों की मौत हो गई। इस घटना से दोनों देशों के बीच तनाव और बढ़ गया है। खोस्त के कार्यवाहक पुलिस प्रमुख कर्नल अब्दुल हन्नान जरदान ने बताया कि कम से कम एक अफगान नागरिक और दो पाकिस्तानी सैनिकों की मौत हुई है। दो पाकिस्तानियों के शव पाकिस्तान के जनजातीय इलाके के पास सीमा के अफगान इलाके की ओर मिले हैं। तीन अन्य नागरिक भी घायल हुए हैं। खोस्त के प्रांतीय गवर्नर के प्रवक्ता तालिब मंगल ने घटना की पुष्टि की है। उन्होंने बताया कि झड़प में दो अफगान नागरिक और चार पाकिस्तानी सैनिक मारे गए हैं। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान के दो सैनिकों को अफगानिस्तान की जमीन पर हिरासत में लिया गया है। पाकिस्तान की सेना ने बताया कि उसके अर्धसैन्य बल फ्रंटियर कोर के जवान सीमा पर सामान्य निगरानी कर रहे थे तभी अफगानिस्तान की ओर से उन पर गोलियां दागी गईं। इनमें से दो की मौत हो गई और पांच अन्य घायल हो गए। पाक सेना ने यह नहीं बताया कि उसने क्या जवाबी कार्रवाई की। दोनों देशों को 2400 किलोमीटर लंबी डूरंड सीमा रेखा अलग करती है। इसे 1896 में तत्कालीन ब्रिटिश शासकों ने खींचा था। अफगानिस्तान इस अंतरराष्ट्रीय सीमा को मानने से इनकार करता है। यही वजह है कि पाकिस्तान द्वारा इस सीमा पर बनाए जा रहे बंकरों और चौकियों का वह लगातार विरोध करता रहता है। दोनों देशों के बीच तनाव का यह बड़ा कारण है। इसी विवाद की वजह से दोनों देश एक-दूसरे पर सीमावर्ती क्षेत्र में आतंकियों पर कार्रवाई नहीं करने के आरोप लगाते रहते हैं।

Dakhal News

Dakhal News 16 April 2018


तालिबान-हक्‍कानी नेटवर्क

  अमेरिका ने एक बार फिर पाकिस्‍तान पर आतंकवादियों को शरण देने का आरोप लगाया है। अमेरिका के सेना प्रमुख ने कहा है कि तालिबान और हक्कानी नेटवर्क की पाकिस्तान की सीमा में सुरक्षित पनाहगाह हैं और अगर पाक अपनी जमीन पर इसी तरह आतंकवाद को आश्रय देता रहा तो अफगानिस्तान में आंतकवाद पर लगाम लगाना मुश्किल होगा। अमेरिका राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप ने भी इससे पहले पाकिस्‍तान पर आतंकियों को सुरक्षित पनाहगाह उपलब्‍ध कराने का आरोप लगाया था। अमेरिकी सेना के चीफ ऑफ स्टाफ जनरल मार्क ए मिली ने कांग्रेस की सुनवाई के दौरान सांसदों को यह जानकारी दी। जनरल मिली ने कहा, 'ऐसे किसी आतंकवाद को मिटाना बहुत मुश्किल है, जिसकी किसी अन्य देश में सुरक्षित पनाहगाह हो। इस समय तालिबान, हक्कानी और अन्य संगठन ऐसा ही कर रहे हैं। असल में इनके पाकिस्तान में सुरक्षित ठिकाने हैं। पाकिस्तान यदि इन आतंकवादी समूहों के खिलाफ कोई कदम नहीं उठाता है, तो इनको खत्‍म करना बेहद मुश्किल है।' सीनेट की सशस्त्र सेवा समिति के समक्ष सुनवाई के दौरान उन्होंने कहा कि अफगानिस्तान में आंतकवाद को समाप्त करने के लिए आंतकवाद के खतरे को कम करना होगा, जिसे आंतरिक सुरक्षा बल नियमित रूप से कर सकते हैं। जनरल मिली ने कहा, 'यह करने के लिए आप को अनिवार्य रूप से कई काम करने होंगे। यह जरूरी है कि पाकिस्तान आतंकवाद पर लगाम लगाने में हमारा साथ दे। यह क्षेत्रीय समाधान है। यह पाकिस्तान को शामिल करने वाली क्षेत्रीय रणनीति का हिस्सा है।' मेलजोल के संबंध में प्रश्न पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि अफगानिस्तान सरकार विपक्षी गुटों के साथ मिल कर एक तरह की राजनीतिक सुलह करने की अब सही दिशा पर चल रही है और अमेरिका इस प्रयास का समर्थन करता है। ये भी एक समाधान हो सकता है। उन्होंने कहा कि अफगानिस्तान में सैनिकों की मौजूदगी अमेरिका के राष्ट्रीय सुरक्षा के हित में है।  

Dakhal News

Dakhal News 13 April 2018


सुप्रीम कोर्ट -कठुआ रेप केस पर लिया संज्ञान

  कठुआ में नाबालिक बच्ची के साथ दुष्कर्म और हत्या के घिनौने कांड के बाद अब इस मामले को लेकर जहां विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं वहीं राजनीतिक बयानबाजी भी शुरू हो चुकी है। इस बीच पूरे घटनाक्रम पर सुप्रीम कोर्ट ने संज्ञान लिया है। सर्वोच्च न्यायालय ने इसके साथ ही नोटिस भी जारी किया है। इस बीच देश में दोषियों को सख्त सजा दिए जाने की मांग उठने लगी है। वहीं दुष्कर्म केस में वकीलों के विरोध मामले पर एक वकील ने सुप्रीम कोर्ट से दखल देने का अनुरोध किया। इसके जवाब में कोर्ट ने शुक्रवार को वकील से कहा, ‘याचिका दाखिल करो तब विचार करेंगे।‘ कोर्ट ने एक नाबालिग से सामूहिक दुष्कर्म के मामले में जम्मू कश्मीर और कठुआ अधिवक्ता इकाईयों की ओर से आहूत हड़ताल पर न्यायिक संज्ञान लेने के लिए सभी रिकॉर्ड मंगवाए हैं। आठ वर्षीय बच्ची के साथ गैंगरेप के मामले में कई वकीलों ने चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा की अध्यक्षता वाली बेंच के समक्ष इसे मेंशन करते हुए कहा कि कुछ वकील आरोपियों के खिलाफ चार्जशीट दाखिल करने में बाधा उत्पन्न कर रहे हैं। जिसके जवाब में चीफ जस्टिस ने कहा कि हमें कम से कम अखबार की खबर तो दीजिए ताकि हम स्वत: संज्ञान ले सकें। अब इस बात की पूरी संभावना है कि सुप्रीम कोर्ट कठुआ गैंगरेप मामले पर स्वत: संज्ञान ले सकता है। कठुआ गैंगरेप मामले ने पूरे देश में राजनीतिक भूचाल ला दिया है। आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई करने से नाराज कठुआ बार एसोसिएशन ने पिछले दिनों हड़ताल भी किया था। बार एसोसिएशन और वकीलों के विरोध की वजह से चार्जशीट दाखिल नहीं हो पाया था।  

Dakhal News

Dakhal News 13 April 2018


सिखों ने बनाया विश्व रिकॉर्ड

न्यूयॉर्क के एक सिख संगठन ने कुछ ही घंटों में अपने समुदाय के लोगों को नौ हजार पगड़ियां बांधकर विश्व रिकॉर्ड बना लिया है। न्यूयॉर्क के प्रसिद्ध टाइम स्क्वायर में सालाना "टर्बन डे" मनाया गया। इस मौके में सिख समुदाय के खिलाफ हिंसा की घटनाओं के प्रति भी जागरूकता का संदेश दिया गया। न्यूयॉर्क में अप्रैल के मध्य में हर साल मनाए जाने वाले बैसाखी के वार्षिक समारोह में सैकड़ों सिख जमा हुए। इस साल सिख समुदाय ने "टर्बन डे" पर विश्व रिकॉर्ड बनाने की ठानी। लिहाजा विगत शनिवार को पूरे दिन चले इस कार्यक्रम में कुल नौ हजार रंग-बिरंगी पगड़ियां बांधी गईं। सिख संगठन के संस्थापक चनप्रीत सिंह ने बताया कि कुछ ही घंटों में हजारों पगड़ियां बांधकर वह बहुत उत्साहित हैं। इस संगठन ने गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड्स से विश्व रिकॉर्ड बनाने का सर्टीफिकेट भी हासिल कर लिया है। "टर्बन डे" पर सिर्फ सिख समुदाय के लोगों को ही नहीं बल्कि अमेरिकियों, पर्यटकों और अमेरिका भर से टाइम स्क्वायर घूमने आए अमेरिकियों को भी सिख स्टाइल की पगड़ी बांधी गई। पगड़ी बांधते हुए इन लोगों को सिखों की पहचान से भी अवगत कराया गया। ताकि लोग सिखों की संस्कृति से वाकिफ हो सकें। इस आयोजन का मुख्य मकसद यह था कि लोगों को सिखों की संस्कृति, धर्म और उनकी पहचान से अवगत कराया जाए। ताकि 9/11 के आतंकी हमले को दौरान न्यूयॉर्क में सिख समुदाय के लोगों को उनकी पगड़ी के कारण आतंकी मानकर उन पर हमले करने की घटनाएं फिर कभी न दोहराई जाएं।  

Dakhal News

Dakhal News 9 April 2018


राजदूत मलीहा लोधी

  कश्मीर मुद्दों को लेकर पाकिस्तान अपनी पुरानी हरकतों से बाज नहीं आ रहा है। संयुक्त राष्ट्र में पाक की राजदूत मलीहा लोधी ने सुरक्षा परिषद के अध्यक्ष गुस्तावो मेजा-कुआद्रा के सामने एक बार फिर कश्मीर का मुद्दा उठाया। अप्रैल में परिषद की अध्यक्षता का जिम्मा यूएन में पेरु के स्थायी प्रतिनिधि कुआद्रा के पास है। लोधी ने कहा कि लाइन ऑफ कंट्रोल और घाटी में बढ़ते विवाद का असर अंतरराष्ट्रीय सुरक्षा और शांति पर पड़ सकता है। लोधी ने 'कश्मीर सद्भावना दिवस' के उपलक्ष्य में यूएन-पाक मिशन के पाकिस्तानी और कश्मीरी समुदाय के सदस्यों के साथ भी बैठक की। बैठक से पहले एक ट्वीट में लोधी ने कहा कि पाक हमेशा कश्मीरी भाई-बहनों के संघर्ष का समर्थन करेगा। ऐसा पहला बार नहीं है कि जब पाक ने संयुक्त राष्ट्र में यह मुद्दा उठाया है। पूर्व में वह कश्मीर की तुलना फलस्तीन से कर वहां के नागरिकों के मानवाधिकार हनन का मुद्दा अंतरराष्ट्रीय स्तर पर उठा चुका है। पाक लगातार इस फिराक में है कि यूएन इस मामले में हस्तक्षेप करे, जबकि भारत इस मसले में द्विपक्षीय वार्ता के अपने रुख पर कायम है। यूएन भी द्विपक्षीय वार्ता पर जोर देता रहा है। उल्लेखनीय है कि पिछले हफ्ते भारतीय सैनिकों ने तीन ऑपरेशनों के तहत 13 आतंकी मार गिराए थे। इनमें कुछ लेफ्टिनेंट उमर फयाज की हत्या के दोषी थे। दूसरी ओर अनंतनाग और शोपियन जिले में चार नागरिक और तीन भारतीय जवान शहीद हुए थे।  

Dakhal News

Dakhal News 7 April 2018


सलमान रिहा, मुंबई पहुंचे

  काला हिरण शिकार मामले में जोधपुर सेंट्रल जेल में बंद सलमान खान को बड़ी राहत देते हुए जोधपुर सेशंस कोर्ट ने उन्हें जमानत दे दी है। वह जोधपुर एयरपोर्ट से मुंबई भी पहुँच गए। उनकी रिहाई के ऑर्डर कोर्ट से जारी किए जाने के बाद शाम करीब 5.35 बजे जेल से रिहा कर दिया गया। जेल में ऑफिस बंद होने के चार मिनट पहले ही सलमान की रहाई का ऑर्डर लेकर शेरा पहुंच गए थे। अगर, थोड़ी और देर हो जाती, तो सलमान को सोमवार तक जेल में ही बिताने पड़ते। इस बीच एयरपोर्ट रोड को खाली करा लिया गया था। सलमान की कार के पीछे हजारों की तादात में लोग चल रहे थे। सलमान की एक झलक पाने के लिए लोगों का जुनून देखने लायक था। रास्ते में फूलों की बारिश भी सलमान की कार पर की गई। इससे पहले ही दोनों बहनें अलवीरा और अर्पिता एयरपोर्ट पहुंच चुकी थीं। यहां से उन्हें मुंबई ले जाने के लिए चार्टेड विमान पहले से तैयार रखा गया था। बताते चलें कि सलमान को 50 हजार के निजी मुचलके पर जमानत दी है। सलमान के परिवार के दो लोगों को जेल में जाने की इजाजत दी गई थी। इसके साथ ही सुरक्षा कारणों से कार को जेल परिसर तक ले जाने की इजाजत भी दी गई थी। बताते चलें कि इससे पहले जज साहब कोर्ट रूम में आए और उन्होंने पहले चारों तरफ देखा, छत की निहारा और कुछ देर चुप रहे। उन्हें इस तरह देख पूरे कोर्ट रूम में सन्नाटा पसर गया और इस बीच जज जोशी ने एक लाइन में कहा बेल ग्रांटेड। जज के फैसले के साथ ही कोर्ट रूम में बैठे सलमान के वकीलों के अलावा उनकी बहनों अर्पिता और अल्विरा के चेहरे पर राहत नजर आई। फैसले के बाद बाहर आए सलमान के वकील हस्तीमल सारस्वत ने मीडिया से कहा कि हमें न्याय मिला है। फिलहाल बेल बॉन्ड देने वाले जज मौजूद हैं और अगर वकील वक्त पर बेल बॉन्ड भर देते हैं तो रिलीज ऑर्डर सेंट्रल जेल भेजा जाएगा और सलमान आज ही जेल से बाहर आ सकते हैं। सलमान को जमानत मिलने की खबर बाहर आते ही उनके फैन्स खुशी से झूम उठे, सड़कों पर लोग खुशी मनाते दिखे और सेंट्रल जेल के बाहर भी भीड़ एकत्रित हो गई। सलमान पर यह फैसला पहले लंच के बाद आने वाला था लेकिन लंच खत्म होने के बाद जज रविंद्र जोशी ने संदेश भिजवाया कि अब वो 3 बजे फैसले सुनाएंगे। इससे पहले कोर्ट रूम में सलमान के वकील और सरकारी वकील ने अपनी-अपनी दलीलें पेश कीं जिसके बाद जज जोशी ने लंच के बाद फैसला सुनाने की बात कही थी। इससे पहले सुबह 10.30 बजे कोर्ट लगने के साथ ही जज ने दोनों ही पक्षों को फिर से अपनी दलीलें रखने के लिए कहा। इस दौरान सलमान के वकीलों ने अपनी बात दोहराते हुए कहा कि उन्हें गलत फंसाया जा रहा है। सलमान हर पेशी पर आए हैं आर्म्स एक्ट मामले में भी उन्हें निर्दोष ठहराया गया था ऐसे में उनकी सजा सस्पेंड की जाए। वहीं सरकारी वकील ने अपना पक्ष रखते हुए कहा कि मामला अन्य केसेस से अलग है और इसमें प्रत्यक्षदर्शी भी हैं ऐसे में सलमान को जमानत ना दी जाए क्योंकि वो देषी हैं। दोनों पक्षों को सुनने के बाद जज रविंद्र जोशी ने कुछ देर रूककर कहा कि उनका ट्रांसफर हो चुका है ऐसे में वो केस को लेकर कोई फैसला नहीं दे सकते लेकिन जमानत को लेकर फैसला लंच के बाद सुनाएंगे। जज के ट्रांसफर के बाद सस्पेंस बना हुआ था कि क्या जज रविंद्र जोशी ही सलमान पर फैसला देंगे या फिर किसी अन्य जज को केस ट्रांसफर करेंगे। इससे पहले जब जज रविंद्र जोशी कोर्ट स्थित अपने चैंबर में मौजूद थे, तब यहां उनसे मुलाकात करने के लिए सीजेएम कोर्ट के जज खत्री भी पहुंचे। जज खत्री ने ही सलमान को इस मामले में 5 साल की सजा सुनाई थी। मालूम हो. राजस्थान में शुक्रवार रात एक साथ 87 जजों के तबादले कर दिए। इनमें जोधपुर सेशन कोर्ट के जज रवींद्र कुमार जोशी भी हैं। उनकी जगह चंद्रशेखर शर्मा को सेशन जज बनाया गया है। गौरतलब है कि जज जोशी ने जमानत पर शुक्रवार को फैसला शनिवार तक के लिए सुरक्षित कर लिया था। न्यायिक सूत्रों के मुताबिक, जज शर्मा के कार्यभार संभालने तक जमानत याचिका पर सुनवाई संभव नहीं हो सकेगी। यानी सलमान खान को अभी कई और रातें जेल में काटनी पड़ सकती हैं। सलमान को जोधपुर के निकट कांकणी गांव में एक अक्टूबर, 1998 की रात दो काले हिरण की गोली मारकर हत्या करने के अपराध में गुरुवार को पांच साल जेल और दस हजार जुर्माने की सजा सुनाई गई। यह घटना "हम साथ साथ हैं" फिल्म की शूटिंग के दौरान हुई थी। मामले में सलमान के साथी कलाकार सैफ अली खान, तब्बू, नीलम, सोनाली बेंद्रे और एक स्थानीय व्यक्ति दुष्यंत सिंह भी आरोपित थे, जिन्हें "संदेह का लाभ" देते हुए बरी कर दिया गया है। जोधपुर सेंट्रल जेल में सलमान से मिलने को फिल्मी दुनिया से जुड़े लोगों का पहुंचना शुरू हो गया है। इसी कड़ी में अभिनेत्री प्रीति जिंटा शुक्रवार दोपहर 12ः05 बजे जोधपुर एयरपोर्ट पर उतरकर सीधे सेंट्रल जेल पहुंचीं। सलमान की बहन अलवीरा और अर्पिंता भी जेल में सलमान से मिलने पहुंचीं। नियम के अनुसार जेल में बंद किसी भी कैदी से दिन में एक या फिर दो लोग ही जेल प्रशासन की अनुमति और सभी औपचारिकताएं पूरी करने के बाद ही मिल सकते हैं, लेकिन जेल प्रशासन ने ना तो प्रीति जिंटा की तलाशी ली और ना ही रजिस्टर में उनके हस्ताक्षर कराए। प्रीति जिंटा को कोई न देख पाए, इसलिए उनकी कार के शीशों पर अखबार लगा दिया गया था। उनकी कार सीधे जेल के मुख्य द्वार तक पहुंची और वह बिना किसी जांच के अंदर चली गईं। बताया जाता है कि प्रीति के साथ पुलिस और जेल प्रशासन के दो अधिकारी भी थे। जोधपुर सेशन कोर्ट में सलमान की जमानत याचिका पर सुनवाई शनिवार तक के लिए टल जाने के बाद उनकी दोनों बहनें अलवीरा और अर्पिंता जेल पहुंचीं। जेल से जुड़े सूत्रों के मुताबिक दोनों बहनों से मिलने के लिए सलमान खान को जेलर के कमरे में लाया गया। दोनों बहनों ने शुक्रवार को कोर्ट की कार्यवाही के बारे में उनको बताया और फिर आगामी रणनीति को लेकर उनसे चर्चा की। जानकारी के अनुसार शुक्रवार सुबह सलमान खान का बॉडीगॉर्ड शेरा और दो अन्य लोग भी जेल पहुंचे थे। फिल्म निर्माता साजिद नाडियावाला के भी जोधपुर पहुंचने की बात कही जा रही है। नियमों को दरकिनार कर इतने लोगों की सलमान खान से मुलाकात कराने को लेकर जेल डीआइजी विक्रम सिंह से जब सवाल किया गया तो वह कुछ भी बोलने को तैयार नहीं हुए।  

Dakhal News

Dakhal News 7 April 2018


 SC/ST एक्ट

  सुप्रीम कोर्ट के जिस फैसले के खिलाफ सोमवार को देश में बंद के दौरान जमकर हिंसा हुई उसे सर्वोच्च न्यायालय ने यथावत रखा है। कोर्ट ने यह आदेश केंद्र सरकार की उसके फैसले पर दायर पुनर्विचार याचिका पर सुनवाई करते हुए दिया। हालांकि, इस दौरान कोर्ट ने अपने फैसले को लेकर पैदा हुई उन बिंदुओं को साफ किया है। मंगलवार को केंद्र सरकार की पुनर्विचार याचिका पर सुनवाई करते हुए कोर्ट ने टिप्पणी में कहा कि हम एससी-एसटी एक्ट के खिलाफ नहीं हैं लेकिन किसी निर्दोष को सजा नहीं मिलनी चाहिए। मामले में कोर्ट ने सभी पार्टियों को दो दिन में जवाब दाखिल करने के लिए कहा है वहीं इस मामले में 10 दिन बाद फिर सुनवाई होगी। बता दें कि आज सुबह ही सुप्रीम कोर्ट याचिका पर खुली कोर्ट में सुनवाई के लिए तैयार हो गया। इसके लिए केंद्र सरकार की तरफ से अटॉर्नी जनरल ने जस्टिस एके गोयल से इस मामले में अपील की थी। जिसके बाद जस्टिस गोयल ने कहा था कि इस संबंध में अंतिम फैसला चीफ जस्टिस ही ले सकते हैं। बता दें कि सुप्रीम कोर्ट के एससी-एसटी एक्ट को लेकर दिए गए फैसले को लेकर केंद्र सरकार ने सोमवार को ही पुनर्विचार याचिका दाखिल की थी। सोमवार को याचिका दायर करते हुए सरकार ने जल्द-से-जल्द और खुली अदालत में सुनवाई का आग्रह किया। सरकार का कहना है कि सुप्रीम कोर्ट का आदेश संविधान के अनुच्छेद 21 में अनुसूचित जाति, जनजाति को मिले अधिकारों का उल्लंघन करता है। 20 मार्च को दिए गए फैसले में सुप्रीम कोर्ट ने एससी, एसटी एक्ट के दुरुपयोग पर सवाल उठाते हुए तत्काल गिरफ्तारी पर रोक लगा दी थी। कोर्ट के इस फैसले का देशभर के दलित समूहों ने विरोध किया था और इसी कड़ी में सोमवार को भारत बंद बुलाया था जिस दौरान कई राज्यों में हिंसा भड़क गई। इस हिंसा में अकेले मध्य प्रदेश में ही 7 लोगों की मौत हो गई थी। इसके अलावा सैकड़ों लोग घायल हुए व करोड़ों की संपत्ति को नुकसान पहुंचा था।  

Dakhal News

Dakhal News 3 April 2018


संयुक्त राष्ट्र (यूएन) सुरक्षा परिषद

  संयुक्त राष्ट्र (यूएन) सुरक्षा परिषद ने प्रतिबंध के बावजूद उत्तर कोरिया की मदद करने पर 27 शिपिंग कंपनियों सहित एक व्यक्ति का नाम काली सूची में डाल दिया है। मीडिया में इसकी जानकारी शनिवार को दी गई।  उत्तर कोरिया पर नए प्रतिबंधों की घोषणा बीते शुक्रवार को की गई थी। इन प्रतिबंधों का प्रभाव ना केवल उत्तर कोरियाई कंपनियों पर पड़ेगा बल्कि इससे चीन और ताइवान की कंपनियां भी अछूती नहीं रहेंगी। काली सूची में शामिल की गई कंपनियों में 16 उत्तर कोरिया की, पांच हांगकांग, दो-दो चीन व ताइवान की और एक-एक पनामा और सिंगापुर की हैं। यूएन में अमेरिका की राजदूत निक्की हेली ने कहा,"नए कदम यह साफ इशारा करते हैं कि अंतरराष्ट्रीय बिरादरी उत्तर कोरियाई सरकार पर दबाव बढ़ाने के लिए एक है।" शुक्रवार को लगाए गए नए प्रतिबंधों का प्रस्ताव अमेरिका ने ही दिया था, ताकि समुद्र के जरिये उत्तर कोरिया को तेल और कोयले जैसे सामान की तस्करी पर रोक लगाई जा सके। उत्तर कोरिया 2006 से कई प्रकार के अंतरराष्ट्रीय प्रतिबंधों को झेल रहा है। इससे उसकी अर्थव्यवस्था को काफी नुकसान पहुंचा है।   

Dakhal News

Dakhal News 31 March 2018


चीन का दक्षिण चीन सागर में शक्ति प्रदर्शन

  विवादित दक्षिण चीन सागर क्षेत्र में चीन में लगातार अपनी पकड़ मजबूत कर रहा है। उपग्रह से मिली तस्‍वीरों में नजर आया है कि इस सप्‍ताह चीनी नौसेना के दर्जनों जहाज दक्षिण चीन सागर के हैनान द्वीप पर अभ्‍यास कर रहे हैं। हालांकि चीन द्वारा ने इस सैन्‍य अभ्‍यास को सामान्‍य बताया था। चीनी वायुसेना की ओर से जारी बयान में कहा गया कि रविवार को उसने जापान के दक्षिणी द्वीपसमूहों को पार करके दक्षिण चीन सागर और वेस्टर्न पसिफिक में अभ्यास किया। सैटेलाइट से मिली तस्‍वीरों में दिखाई दे रहा है कि चीन कितने बड़े स्‍तर पर दक्षिण चीन सागर में युद्धाभ्‍यास कर रहा है। ऐसा लग रहा है कि चीन की ओर से किसी जंग की तैयारी की जा रही है। चीनी वायुसेना ने भी अपने बयान में इस तरह के अभ्यासों को युद्ध की तैयारी के लिए सर्वश्रेष्ठ बताया। ज्ञात हो कि राष्ट्रपति शी चिनफिंग की अगुआई में चीन अपनी सेनाओं के आधुनिकीकरण का कार्यक्रम चला रहा है। इसके तहत चीन मुख्य लक्ष्‍य वायुसेना और नौसेना के आधुनिकीकरण पर है। चीनी वायुसेना ने अपने एक बयान में कहा कि इस अभ्यास में H-6K, Su-30 और Su-35 फाइटर प्लेन्स के साथ दूसरे एयरक्राफ्ट्स का इस्तेमाल किया गया। ताइवान के रक्षा मंत्रालय के मुताबिक, चीन ने दक्षिण चीन सागर में युद्धाभ्‍यास के दौरान दर्जनों जहाजों की हलचल देखी गई। लिओनिंग कैरियर समूह ने पिछले हफ्ते ताइवान का दौरा किया था। तस्वीरों को सोमवार को लिया गया, जिनमें नजर आ रहा है कि कम से कम 40 जहाजों और पनडुब्बियां लिओनिंग समूह में शामिल हैं। कुछ विश्लेषकों ने चीन के इस बढ़ती नौसेना के असामान्य रूप से बड़े प्रदर्शन के रूप में वर्णित किया है। कैलिफोर्निया स्थित आधारित मिडलबरी इंस्टीट्यूट ऑफ स्ट्रैटेजिक स्टडीज के एक सुरक्षा विशेषज्ञ जेफरी लुईस ने कहा कि तस्‍वीरें पुष्टि करती हैं कि कैरियर ड्रिल में शामिल हुआ था। उन्‍होंने हैरानी जाते हुए कहा, 'ये अविश्वसनीय तस्वीरें हैं। यह मेरे लिए बड़ी खबर है।' गौरतलब है कि चीन पूरे दक्षिण चीन सागर के क्षेत्र पर अपना दावा करता है, जहां से 5 खरब डॉलर के व्यापार का आयात-निर्यात होता है। इसके अलावा ब्रुनेई, मलेशिया, फिलीपींस, ताइवान और वियतनाम ने भी इस विवादित समुद्री इलाके में अपना दावा करते आ रहे हैं।चीन और फिलीपींस के बीच ये समुद्र विवाद तब से कम हो गया है जब से फिलीपींस के राष्ट्रपति रॉड्रिगो दुतेर्ते जुलाई 2016 में सत्ता में आए और बीजिंग के साथ चीनी व्यापार और निवेश के जरिए संबंधों में सुधार की कोशिश की थी।  

Dakhal News

Dakhal News 27 March 2018


गन कंट्रोल

  अमेरिका में फ्लोरिडा के स्कूल में 14 फरवरी 2018 को हुई फायरिंग में 17 बच्चों की मौत के बाद गन कंट्रोल की मांग को लेकर शुरू हुआ प्रदर्शन शनिवार को ऐतिहासिक मार्च में बदल गया। गन कल्चर के खिलाफ वॉशिंगटन में अब तक का दुनिया का सबसे बड़ा मार्च निकाला गया, जिसमें पांच लाख से ज्यादा लोग शामिल हुए। आपको बता दें कि इससे ज्यादा लोग सिर्फ अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा की शपथ में ही जुटे थे। अमेरिका में कड़ा बंदूक नियंत्रण कानून की मांग को लेकर हुए प्रदर्शन में हजारों लोग जुटे। शनिवार को होने वाली रैली में भाग लेने के लिए देश भर से लाखों लोग पहुंचे। रैली का नेतृत्व पिछले महीने फ्लोरिडा स्कूल नरसंहार में जीवित बचे छात्रों ने किया। इस नरसंहार के बाद से लोगों का गुस्सा चरम पर है। वॉशिंगटन के अलावा पूरे अमेरिका में 700 से ज्यादा जगहों पर प्रदर्शन हुए। ब्रिटेन में लंदन, जापान के टोक्यो, ऑस्ट्रेलिया के सिडनी, भारत में मुंबई समेत दुनिया के 100 शहरों में गन कंट्रोल की मांग को लेकर प्रदर्शन हुए। प्रदर्शनकारियों ने कैपिटोल के समीप प्रदर्शन किया और अमेरिकी कांग्रेस से बंदूक से हो रही हिंसा से लड़ने का आह्वान किया। प्रदर्शनकारियों का लक्ष्य उस कानूनी रुकावट को तोड़ना है जो देश में लंबे समय से बंदूकों की बिक्री पर प्रतिबंध के प्रयासों की राह में रोड़ा बना हुआ है। देश में स्कूलों और कॉलेजों में आए दिन समूह पर गोलीबारी होना आम बात हो गई है।  

Dakhal News

Dakhal News 25 March 2018


UN मानवाधिकार परिषद

  इजरायल के खिलाफ निंदा प्रस्तावों से भड़के अमेरिका ने एक बार फिर जेनेवा स्थित संयुक्त राष्ट्र (यूएन) की मानवाधिकार परिषद से बाहर निकलने धमकी दी है। शनिवार को अमेरिका ने कहा कि उसका धैर्य अब जवाब दे रहा है। मानवाधिकार परिषद ने उत्तर कोरिया, ईरान और सीरिया की निंदा के लिए तीन-तीन प्रस्ताव पारित किए जबकि इजरायल के खिलाफ पांच प्रस्ताव पारित किया। ये प्रस्ताव इस्लामिक सहयोग संगठन के सदस्यों ने परिषद के 'एजेंडा आइटम 7' के तहत पेश किए थे जो इजरायल के लिए चिंताजनक है। यूएन में अमेरिकी राजदूत निक्की हेली ने कहा, 'परिषद ने इजरायल के खिलाफ पक्षपातपूर्ण व्यवहार किया है। उत्तर कोरिया, ईरान और सीरिया के मुकाबले इजरायल से अधिक बुरा बर्ताव कर परिषद खुद अपनी ही हंसी उड़ा रहा है। हमारा धैर्य असीमित नहीं है। संगठन के कदम से साबित हो गया कि यह अब अपनी साख खो चुका है।'  

Dakhal News

Dakhal News 24 March 2018


भारत ने किया सुपरसोनिक मिसाइल ब्रह्मोस का सफल परीक्षण

राजस्थान के पोखरण में गुरुवार सुबह सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल ब्रह्मोस का स्वदेशी सीकर के साथ सफल परीक्षण किया गया। यह सीकर डीआरडीओ और ब्रह्मोस एयरोस्पेस द्वारा मिलकर विकसित किया गया है। मिसाइल के इस परीक्षण के दौरान पोखरण में डीआरडीओ के अधिकारियों के अलावा भारतीय सेना और ब्रह्मोस के अधिकारी भी मौजूद थे। टेस्ट के दौरान सटीक हमला करने में माहिर इस हथियार ने पहले तय टार्गेट पर पिन पॉइंट निशाना लगाया। इससे पहले इस मिसाइल को पहली बार पिछले साल नवंबर में फायटर जेट सुखोई-30 एमकेआई से दागा गया था। भारत सरकार इस मिसाइल को सुखोई में लगाने के लिए काम शुरू कर चुकी है और अगले तीन सालों में कुल 40 सुखोई विमान ब्रह्मोस मिसाइल से लैस हो जाएंगे। माना जा रहा है कि सुखोई में ब्रह्मोस फिट होने से क्षेत्र में एयरफोर्स की ताकत काफी बढ़ जाएगी।  

Dakhal News

Dakhal News 22 March 2018


राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन

  रूस में रविवार को राष्ट्रपति पद का चुनाव होना है। रूसी मतदाता राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन को एक और कार्यकाल का मौका देने को तैयार दिख रहे हैं। वह पुतिन को पश्चिम के देशों के खिलाफ खड़े होने का श्रेय देते हैं। जबकि पश्चिमी देश पुतिन को खतरनाक तानाशाह के रूप में देखते हैं। यह चुनाव ऐसे समय में हो रहा है जब रूस अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सीरिया युद्ध और पूर्व रूसी जासूस को जहर देने के मामले में ब्रिटेन के साथ तनाव में उलझा हुआ है। चुनाव सर्वेक्षणों के मुताबिक, 65 वर्षीय पुतिन को शानदार बढ़त है। इस जीत के साथ वह छह साल के एक और कार्यकाल के लिए राष्ट्रपति बन जाएंगे। इस तरह सत्ता में उनका करीब 25 वर्ष पूरा हो जाएगा। ऐसा करने वाले वह जोसेफ स्टालिन के बाद दूसरे रूसी नेता होंगे। चुनाव प्रचार के दौरान पुतिन ने खुद को शत्रु दुनिया में रूस के राष्ट्रीय हितों की रक्षा करने वाला एकमात्र व्यक्ति बताया है। उनके समर्थक सीरिया में रूस के सैन्य दखल और 2014 में यूक्रेन के क्रीमिया क्षेत्र पर कब्जे को पुतिन की देशभक्ति का प्रमाण मानते हैं। नौ मार्च के चुनाव सर्वेक्षण में पुतिन को 69 फीसद मिले थे। जबकि उनके निकटतम प्रतिद्वंद्वी कम्युनिस्ट पार्टी के उम्मीदवार पावेल ग्रुदिनिन को केवल सात फीसद मिले थे। कम मतदान कर सकता है प्रभावित माना जा रहा है कि कम मतदान पुतिन के मुश्किल पैदा कर सकता है। इसके अलावा पुतिन विरोधी रूसी अल्पसंख्यक उनके खिलाफ मतदान के लिए उतर गए तो उसका भी असर पड़ सकता है। कम मतदान से सत्तारूढ़ दल के भीतर पुतिन के कद को नुकसान पहुंचा सकता है।

Dakhal News

Dakhal News 15 March 2018


ट्रंप-किम जोंग में सुलह के संकेत, मई में होगी  के बातचीत

वाशिंगटन से खबर है कि अमेरिका और नॉर्थ कोरिया के बीच तनाव कम होने लगा है और बातचीत के रास्ते खुलने लगे हैं। खबर है कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप से नॉर्थ कोरिया के तानाशाह किम जोंग उन ने बातचीत के लिए कहा है और दोनों की मई तक मुलाकात हो सकती है। ट्रंप ने इस मुलाकात के लिए सहमति जता दी है। इस बीच राष्ट्रपति ट्रंप ने एक बड़ी घोषणा की है। उन्होंने शुक्रवार को मीडिया के सामने आकर कहा कि दक्षिण कोरिया, नॉर्थ कोरिया को लेकर एक बड़ा ऐलान करने वाला है। ट्रंप ने यह बात व्हाइट हाउस में जारी मीडिया ब्रिफिंग में आकर उन्होंने कम शब्दों में कहा कि दक्षिण कोरिया बड़ी घोषणा करने वाला है। जब उनसे पूछा गया कि यह घोषणा क्या होगी तो उन्होंने सिर्फ इतना कहा कि उत्तर कोरिया को लेकर यह घोषणा होगी। ट्रंप के इस बयान के बाद अब पूरी दुनिया की नजरें उत्तर और दक्षिण कोरिया पर टिकीं हुईं हैं।

Dakhal News

Dakhal News 9 March 2018


 आपातकाल के बावजूद श्रीलंका में बौद्धों का मुसलमानों पर हमला

श्रीलंका में बौद्धों की भीड़ ने अल्पसंख्यक मुसलमानों की मस्जिदों और दुकानों पर मंगलवार रात हमले किए। देश में शांति कायम करने के लिए लगाए गए आपातकाल के बावजूद ये हमले हुए। पुलिस ने बताया कि कैंडी में अनिश्चितकालीन कर्फ्यू लागू है। लेकिन मंगलवार रात हिंसा की कई घटनाएं हुईं। इनमें तीन पुलिस अधिकारी घायल हो गए। लेकिन घायल नागरिकों की संख्या का पता नहीं चल पाया। कैंडी में मुसलमानों के साथ झगड़े में बौद्ध युवक की मौत के बाद रविवार रात से हिंसा शुरू हुई और श्रीलंका के कई हिस्सों में फैल गई। हिंसा पर काबू पाने के लिए राष्ट्रपति मैत्रिपाल सिरीसेन ने मंगलवार को सात दिनों के आपातकाल की घोषणा की। श्रीलंका के वरिष्ठ मंत्री शरत अमुनुगामा ने कहा कि कैंडी में ताजा हिंसा क्षेत्र से बाहर के लोगों ने शुरू की है। श्रीलंका में साल भर से बौद्ध और मुस्लिम समुदाय के बीच तनाव बढ़ रहा था। बौद्धों का आरोप है कि मुसलमान लोगों को जबरन इस्लाम कुबूल करवा रहे हैं और बौद्ध पुरातात्विक स्थलों को तोड़ रहे हैं। कुछ बौद्ध राष्ट्रवादी म्यांमार से आए रोहिंग्या मुसलमानों को श्रीलंका में शरण देने का भी विरोध कर रहे हैं।  

Dakhal News

Dakhal News 7 March 2018


केपी शर्मा ओली  दूसरी बार नेपाल के पीएम बने

  खबर काठमांडू से । सीपीएन-यूएमएल के अध्यक्ष केपी शर्मा ओली गुरुवार को दूसरी बार नेपाल के प्रधानमंत्री बने। नेपाल की राष्ट्रपति बिद्या देवी भंडारी ने 65 वर्षीय ओली को देश का 41वां प्रधानमंत्री नियुक्त किया। करीब दो महीने पहले ऐतिहासिक संसदीय और स्थानीय चुनावों में वाम गठबंधन ने सत्तारूढ़ नेपाली कांग्रेस को भारी शिकस्त दी थी। नवनियुक्त नेपाली प्रधानमंत्री ओली चीन समर्थक माने जाते हैं। वह 11 अक्टूबर 2015 से तीन अगस्त 2016 तक नेपाल के प्रधानमंत्री रह चुके हैं। प्रधानमंत्री पद के लिए ओली की उम्मीदवारी का यूसीपीएन-माओवादी, राष्ट्रीय प्रजातंत्र पार्टी नेपाल और मधेशी राइट्स फोरम-डेमोक्रेटिक के अलावा 13 अन्य छोटे दलों ने समर्थन किया। इससे पहले पूर्व प्रधानमंत्री शेर बहादुर देउबा ने राष्ट्र को संबोधित किया और राष्ट्रपति को अपना इस्तीफा सौंप दिया। देउबा पिछले साल छह जून को वाम गठबंधन का हिस्सा सीपीएन (माओवादी सेंटर) के समर्थन से प्रधानमंत्री चुने गए थे। गौरतलब है कि ओली के नेतृत्व वाले सीपीएन-यूएमएल और प्रचंड के नेतृत्व वाले सीपीएन-माओवादी सेंटर के वाम गठबंधन ने संसद की 275 सीटों में 174 सीटों पर जीत दर्ज की। उसने संसद के उच्च सदन की 59 सीटों में 39 सीटें हासिल कीं। इस ऐतिहासिक प्रांतीय और संसदीय चुनाव के बाद लोगों को नेपाल में राजनीतिक स्थिरता की उम्मीद है।

Dakhal News

Dakhal News 16 February 2018


हाउस ऑफ रिप्रेजेंटिव्स

    वाशिंगटन में  हाउस ऑफ रिप्रेजेंटिव्स ने यौन उत्पीड़न और दुर्व्यवहार से जुड़ा विधेयक पास कर दिया है।यह कदम सोशल मीडिया मूवमेंट ‘मी टू’ और सांसदों पर इस मामले में आरोपों को देखते हुए उठाया गया है।  

Dakhal News

Dakhal News 8 February 2018


 फ्लू अमेरिका मेंअब तक 53 की मौत

अमेरिका में फ्लू का कहर जारी है। जनवरी के अंतिम हफ्ते में ही करीब 16 बच्चों की जान जा चुकी है। सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल(सीडीसी) के मुताबिक फ्लू से मरने वालों की संख्या बढ़कर 53 हो गई है। प्रत्येक एक लाख की जनसंख्या में करीब 51 लोग फ्लू से पीड़ित हैं। इससे पहले 2014-2015 में फ्लू के फैलने से 710,000 लोग अस्पताल में भर्ती कराए गए थे। 148 लोगों की जान गई थी। इंफ्लूएंजा ए (एच3एन) से ज्यादा बुजुर्ग और बच्चे प्रभावित हैं। सीडीसी के डॉ. एने सूशा ने कहा, 'हमें आशंका है कि इस बार के परिणाम 2014-2015 से ज्यादा खतरनाक हो सकते हैं।' मालूम हो कि पिछले दस हफ्ते में फ्लू बीमारी अमेरिका के 48 राज्यों में फैल चुकी है। सीडीसी ने लोगों को सलाह दी है कि जो फ्लू से पीड़ित हैं, वे घर में ही रहें जिससे संक्रमण दूसरों में ना फैले। इसके अतिरिक्त सभी लगातार हाथ धोएं और खांसते व छींकते समय मुंह ढक कर रखें। जिन्होंने अब तक फ्लू का टीका नहीं लगवाया है, वे जल्द से जल्द टीका लगवा लें।    

Dakhal News

Dakhal News 3 February 2018


अफगानिस्तान तालिबान

  अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के तल्ख तेवर और नाटो गठबंधन के व्यापक सैन्य अभियान के बावजूद अफगानिस्तान में तालिबान लगातार अपने पैर पसारता जा रहा है। बीबीसी द्वारा जारी किए गए सर्वे के मुताबिक देश के 70 फीसद हिस्से पर खुले तौर पर तालीबान सक्रिय है। इसमें भी चार फीसद इलाका ही पूरी तरह उसके कब्जे में है। आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट (आइएस) की मौजूदगी भी देश के 30 जिलों में पाई गई है, लेकिन इसमें से कोई भी जिला पूरी तरह उसके नियंत्रण में नहीं है। बीबीसी की ओर से किया गया यह अध्ययन अफगानिस्तान के सभी जिलों में 1200 से ज्यादा लोगों से की गई बातचीत पर आधारित है। इस आकलन में नाटो के अनुमान से ज्यादा इलाके में तालिबान की मौजूदगी पाई गई है। नाटो के मुताबिक अक्टूबर, 2017 तक अफगानिस्तान के 407 जिलों में से महज 44 फीसद ही तालिबान के प्रभाव या कब्जे में हैं। बीबीसी के अनुसार, अफगान सरकार का 122 जिलों या देश के करीब 30 फीसद हिस्से पर नियंत्रण है। इसका सबसे बड़ा उदाहरण है कि काबुल और दूसरे कई बड़े शहर आतंकी हमलों से प्रभावित हैं। हमलों को करीब के इलाकों या स्लीपर सेल द्वारा अंजाम दिया जाता है। पिछले कुछ दिनों से काबुल में कई आतंकी हमले हुए। तालिबान ने 20 जनवरी को काबुल के इंटरकॉन्टिनेंटल होटल को निशाना बनाया था। इसमें 25 लोग मारे गए थे। इसके बाद 27 जनवरी को शहर पर आत्मघाती हमला किया था। इसमें 100 से ज्यादा लोगों की जान गई थी।

Dakhal News

Dakhal News 1 February 2018


एंजेलिना जोली

लॉस एंजिलिस में बच्चों और महिलाओं के हितों की बात करने वाली मशहूर हॉलीवुड सुपरस्टार और संयुक्त राष्ट्र शरणार्थी मानवाधिकार की गुडविल एंबैसेडर एंजेलिना जोली ने नाटो (नॉर्थ अटलांटिक ट्रिटी ऑर्गनाइजेशन) मुख्यालय का दौरा कर युद्धग्रस्त इलाकों में यौन हिंसा पर चिंता जताई है। नाटो के प्रतिनिधियों और संयुक्त राष्ट्र शरणार्थी एजेंसी के साथ आयोजित एक प्रेस कांफ्रेंस की बैठक में जोली ने कहा, युद्ध प्रभावित इलाकों में महिलाओं और बच्चो के साथ हो रहे यौन हिंसा के खिलाफ लड़ाई पर ध्यान केंद्रित करना होगा। एंजेलिना ने चिंता जताते हुए कहा कि संकटग्रस्त इलाकों में महिलाओं और बच्चों के साथ हिंसा खासकर यौन हिंसा काफी बढ़ रही है। इन क्षेत्रों में रेप एक तरह से सैन्य और राजनीतिक लक्ष्य को प्राप्त करने का हथियार बन गया है। ऐसे हालात युवक-युवतियों और महिलाओं- लड़कियों को बुरी तरह से प्रभावित कर रहे हैं। जोली ने उम्मीद जताई कि संयुक्त राष्ट्र की तरफ से उनके लिए अच्छे प्रशिक्षण, रिपोर्टिंग, मॉनीटरिंग और जागरुकता के लिए अभियान चलाया जाएगा। इससे संकटग्रस्त इलाकों में समस्याओं का सामना कर रहे महिलाओं और बच्चों के लिए बेहतर रास्ता तैयार होगा। नाटो सेक्रेटरी जनरल जेन्स स्टोलटेनबर्ग ने कहा कि जोली महिलाओं को सशक्त बनाने और यौन हिंसा के खिलाफ लड़ाई के लिए हमेशा से एक मजबूत आवाज बन कर उभरी हैं। वे अपने महान नेतृत्व क्षमता के कारण एकदम सही प्रवक्ता हैं।  

Dakhal News

Dakhal News 1 February 2018


भगत सिंह को निशान-ए-हैदर  देने की मांग

शहीद-ए-आजम भगत सिंह को पाकिस्तान का सर्वोच्च वीरता पुरस्कार "निशान-ए-हैदर" मिलना चाहिए। साथ ही लाहौर के शादमान चौक पर उनकी एक प्रतिमा लगाई जानी चाहिए। यह मांग पाकिस्तान के एक संगठन की ओर से की गई है। यह संगठन स्वतंत्रता के इस महान सेनानी को कोर्ट में निर्दोष साबित करने के लिए काम कर रहा है। शहीद भगत सिंह को दो अन्य स्वतंत्रता सेनानियों राजगुरु और सुखदेव के साथ 23 मार्च, 1931 को 23 साल की उम्र में लाहौर में फांसी दी गई थी। इन पर आरोप लगाया गया था कि उन्होंने अंग्रेजी हुकूमत के खिलाफ षड्यंत्र रचा और ब्रिटिश पुलिस अधिकारी जॉन पी सांडर्स की हत्या की। पाकिस्तान की पंजाब प्रांत की सरकार को दी अपनी ताजा अर्जी में भगत सिंह मेमोरियल फाउंडेशन ने कहा है कि भगत सिंह ने उपमहाद्वीप की स्वतंत्रता के लिए अपना बलिदान दिया था। याचिका के अनुसार, "पाकिस्तान के संस्थापक कायदे आजम मोहम्मद अली जिन्ना ने भगत सिंह को यह कहते हुए श्रद्धांजलि दी थी कि उपमहाद्वीप में उनके जैसा कोई वीर शख्स नहीं हुआ है। भगत सिंह हमारे नायक हैं। वह मेजर अजीज भट्टी की तरह ही सर्वोच्च वीरता पुरस्कार (निशान-ए-हैदर) पाने के हकदार हैं, जिन्होंने भगत सिंह को हमारा नायक तथा आदर्श घोषित किया था।" फाउंडेशन ने शादमान चौक का नाम भगत सिंह चौक करने की भी मांग की। फाउंडेशन ने कहा, "पंजाब सरकार को इसमें और विलंब नहीं करना चाहिए। जो देश अपने नायकों को भुला देते हैं, वे धरती से गलत शब्दों की तरह मिट गए हैं।"

Dakhal News

Dakhal News 20 January 2018


नापाक फायरिंग में जवान समेत 3 की मौत

जम्मू संभाग में अंतर्राष्ट्रीय सीमा से लेकर नियंत्रण रेखा पर पाकिस्तान की ओर से गोलाबारी जारी है। पाकिस्तान कई चौकियों और रिहायशी इलाकों को निशाना बना रहा है। इसमें एक जवान शहीद हुआ है साथ ही दो और लोगों की मौत हो गई जबकि एक दर्जन के करीब लोग घायल हो गए। इसे मिलाकर अब तक तीन जवानों सहित आठ की मौत हो चुकी है। पैंतीस के करीब लोग घायल हो गए हैं। वहीं अखनूर सेक्टर में भी सभी स्कूलों को बंद कर दिया है। सीमावर्ती क्षेत्रों से लोगों का पलायन जारी है। गोलाबारी में कई जानवर भी मारे गए हैं। पाकिस्तान ने पूरी रात गोलाबारी जार रखी। शनिवार की सुबह अरनिया सेक्टर में कुछ देर के लिए गोलाबारी जरूर थमी लेकिन जैसे ही कुछ लोगों ने गांवों का रुख किया। फिर से गोलाबारी शुरू हो गई। वहीं रामगढ़ सेक्टर में दो लोगों की मौत हो गई। सुबह करीब साढ़े नौ बजे कपूरपुर में पंद्रह साल के किशोर गारा राम निवासी कपूरपुर की मौत हो गई। इसी जगह पर दो अन्य लोग भी घायल हुए हैं। इसी सेक्टर में दोपहर करीब बार बजे गार सिंह पुत्र खुशविंद्र सिंह की भी गोलाबारी में मौत हो गई। इसमें पांच अन्य लोग घायल भी हो गए। घायलों की पहचान अठारह वर्षीय शीतल, पांच वर्षीय जैमल सिंह, तीस वर्षीय सोनी देवी, चालीस वर्षीय मुंशी राम और बीस साल के विनोद कुमार के रूप में हुई है। पांचों घायल सुचेतगढ़ के रहने वाले हैं। वहीं अखनूर सेक्टर के कानाचक्क में एसएसबी का एक जवान लालू राम पुत्र सिया राम निवासी उत्तर प्रदेश घायल हो गया। कानाचक्क में ही पैंतीस वर्षीय बिल्लु पुत्र मनसा और राधा कृष्ण पुत्र बंसी दास भी घायल हो गए। घायलों को इलाज के लिए राजकीय मेडिकल कालेज अस्पताल में भर्ती करवाया गया है। अखनूर सेक्टर के परगवाल, गडखाल व अन्य क्षेत्रों को सुरक्षा के लिहाज से सील किया गया है। गोलाबारी को देखते हुए किसी को भी जाने की अनुमति नहीं है। प्रशासन ने इस क्षेत्र में सभी स्कूलों को बंद कर दिया है। वहीं सीमावर्ती क्षेत्रों से लोगों का पलायन जारी है। अरनिया, सई खुर्द, पिंडी चाढ़का, त्रेवा, चक्क गोरिया, चंगिया, चानना, जबोबाल, चक्क् जंदराल, कोटली काजिया सहित कई गांवों से लोगों ने पलायन कर दिया है। इससे पहले शुक्रवार को पाकिस्तान द्वारा किए गए संघर्ष विराम उल्लंघन में 22 नागरिक घायल हो गए थे वहीं भारतीय सेना का एक जवान भी शहीद हुआ था। हालांकि, भारतीय सेना ने इसका करार जवाब दिया था और जवाबी कार्रवाई में सीमा पार भारी नुकसान की सूचना है। पाकिस्तान ने शुक्रवार को 50 से ज्यादा चौकियों व 100 से अधिक गांवों पर जमकर मोर्टार दागे। अंतरराष्ट्रीय सीमा से पुंछ में नियंत्रण रेखा तक 18 सेक्टरों में पाकिस्तान की ओर से की जा रही भारी गोलाबारी से युद्ध जैसे हालात बन गए। इलाके में तनाव का माहौल है और लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है।  

Dakhal News

Dakhal News 20 January 2018


ज्वालामुखी फटा , 15 हजार लोगों ने छोड़ा घर

फिलीपींस के लेगाजपी शहर में ज्वालामुखी से लावा निकलना शुरू हो गया है। इसे लेकर स्थानीय प्रशासन ने अलर्ट जारी कर दिया है। फिलीपीन इंस्टीट्यूट ऑफ वॉल्केनोलॉजी एंड सिस्मोलॉजी ने मंगलवार को कहा कि माउंट मेयोन से लावा निकलना शुरू हो गया है, जोकि क्रेटर से दो किलोमीटर तक फैल चुका है और उससे निकलने वाली राख आसपास के गांवों तक पहुंचने लगी है। वैज्ञानिकों की मानें तो ज्वालामुखी से निकलने वाला लावा और जहरीला धुंआ लोगों की सेहत के लिए काफी नुकसानदायक है। लावा निकलने की वजह से आसपास के इलाके से 15 हजार लोग सुरक्षित स्थानों पर चले गए हैं। स्थानीय प्रशासन ने अलर्ट लेवल तीन पर रखा है। ऐसे में खतरा अभी टला नहीं है और आने वाले दिनों में इस ज्वालामुखी में विस्फोट होने की आशंका है। जिस स्थान पर लावा फूटना शुरू हुआ है, वो फिलीपींस की राजधानी मनीला से 340 किलोमीटर दूर एलबे प्रांत में है। पिछले पांच सौ सालों में ये ज्वालामुखी पचास बार फूट चुका है। 2013 में पांच पर्वतारोहियों की इसकी चपेट में आने से मौत हो गई थी। फिलीपींस में ऐसे ही 23 ज्वालामुखी सक्रिय हैं। इतिहास में सबसे बड़ा ज्वालामुखी विस्फोट 1991 में हुआ था, जिसमें 850 लोगों की मृत्यु हो गई थी। ज्वालामुखी विस्फोट में लाखों लोगों से अधिक बेघर भी हुए थे।

Dakhal News

Dakhal News 16 January 2018


अमेरिकी ड्रोन हमले में IS के 17 आतंकी ढेर

  अफगानिस्तान के नंगरहार प्रांत में अमेरिकी सेना द्वारा किए गए ड्रोन हमले में 17 आतंकियों के मारे जाने की खबर है। कि मारे गए आतंकी इस्लामिक स्टेट के हैं, जो अफगानिस्तान में अपनी जड़ें मजबूत करने की कोशिशों में जुटे हुए थे। ये हमला रविवार को प्रांत के हास्का मीना और अचिन जिले में किया गया। 17 आतंकियों में से हसाका मीना में 14 आईएस आतंकी, जबकि अचिन में 3 आईएस आतंकी मारे गए। एक अमेरिकी रिपोर्ट के मुताबिक हाल ही के कुछ महीनों में अफगानिस्तान के हालात काफी बिगड़े हैं। नांगरहार प्रांत में अमेरिकी सुरक्षाबलों के साथ ही नाटो सेना पर भी लगातार हमले हो रहे हैं। इस इलाके में आईएस अपने को मजबूत करना चाह रहा है। यहां अमेरिकी सुरक्षाबल आतंकवाद के खिलाफ चल रही लड़ाई में अफगान सेना को ट्रेनिंग देने के साथ ही अभियान में भी मदद कर रहे हैं।  

Dakhal News

Dakhal News 15 January 2018


भूखे लोग भोजन लूट रहे हैं वेनेजुएला में

  वेनेजुएला इन दिनों खाद्य पदार्थों की भारी किल्लत से जूझ रहा है। हालात यह है कि भूखे लोग दुकानों को लूट रहे हैं। जानवरों का शिकार कर रहे हैं। बीते दो दिनों लूटपाट की घटनाओं में चार लोगों की मौत हो गई। 15 घायल हैं। इस तेल समृद्ध देश में खाना लूटने को लेकर भड़की हिंसा में मरने वालों की संख्या बढ़कर छह हो चुकी है। बीते दिसंबर से वेनेजुएला में खाने की चीजों का बड़ा संकट खड़ा हो गया है। विपक्षी पार्टी के सांसद कार्लोस पैपरोनी ने बताया कि पश्चिमी वेनेजुएला के अपरेय शहर में लुटेरों ने कई दिनों तक दुकानों और भंडारों को निशाना बनाया। वेनेजुएला की आर्थिक हालत खस्ता है। तेल के घटते दाम, बढ़ती मुद्रास्फीति और भ्रष्टाचार ने देश को काफी नुकसान पहुंचाया है। बीते बुधवार को एक ट्रक में आटा और मुर्गों को लेकर जा रहे 19 साल के युवक को लुटेरों ने गोली मार दी और सारा सामान लूट लिया। यह घटना गुआनारे की है। एक रिपोर्ट के अनुसार वेनेजुएला के लगभग 82 फीसद निवासी गरीबी में जी रहे हैं। इनमें भी 51 प्रतिशत लोग तो ठीक से अपना पेट भी नहीं भर पाते हैं। हालांकि सरकार इस आंकड़े से सहमत नहीं है। कच्चे तेल के दाम में तेजी से हुई गिरावट के बाद से ही वेनेजुएला का आर्थिक संकट गहराता चला गया। स्थिति यह है कि देश का प्रशासनिक तंत्र ध्वस्त हो चुका है। राष्ट्रपति निकोलस मादुरो हालात को नियंत्रित कर पाने में बुरी तरह विफल रहे हैं।  

Dakhal News

Dakhal News 13 January 2018


कैरेबियन आइलैंड

  कैरेबियन आइलैंड में भीषण भूकंप आया है। यूएस जियोलॉजीकल सर्वे के अनुसार रिक्टर स्कैल पर इसकी तीव्रता 7.8 मापी गई है। यह भूकंप जमाइका के पश्चिम में स्थित होंडरस तट के करीब आया है। भूकंप का केंद्र 10 किमी की गहराई में बताया गया है। इस तेज भूकंप के बाद फिलहाल अभी तक किसी तरह के जानमाल के नुकसान की खबर नहीं है लेकिन सुनामी की चेतावनी जारी कर दी गई है। नेशनल सुनामी वॉर्निंग सेंटर के अनुसार सुनामी की लहरें तीन फीट ऊंची हो सकती है और इसकी चपेट में क्यूबा, होंडरस, जमाइका और मैक्सिको आ सकते हैं। अधिकारियों के अनुसार अमेरिका के वर्जिन आइलैंड और प्यूर्टो रिको भी सुनामी की जद में हैं।  

Dakhal News

Dakhal News 10 January 2018


बलूचिस्तान प्रांत

  पाकिस्तान के बलूचिस्तान प्रांत की असेंबली के पास मंगलवार को आत्मघाती हमले में चार पुलिसकर्मियों सहित छह लोगों की मौत हो गई। 18 लोग घायल हुए हैं। उन्हें अस्पतालों में भर्ती कराया गया है। हमले की जिम्मेदारी प्रतिबंधित आतंकी संगठन तहरीक-ए-तालिबान ने ली है। धमाके के कुछ घंटे पहले ही राजनीतिक अस्थिरता के कारण प्रांत के मुख्यमंत्री सनाउल्ला जहीरी ने अपने पद से इस्तीफा दिया था। असेंबली के सत्र के मद्देनजर इस इलाके में बड़ी संख्या में पुलिस बल तैनात था। जानकारी के अनुसार, मोटरसाइकिल पर सवार एक आत्मघाती हमलावर क्वेटा के उच्च सुरक्षा वाले रेड जोन इलाके जरघून रोड में फ्रंटियर कांस्टेबुलरी ट्रक में घुस गया और विस्फोट कर दिया। विस्फोटस्थल प्रांतीय असेंबली की इमारत से मात्र 300 मीटर ही दूर है। बलूचिस्तान के मुख्यमंत्री सनाउल्ला जहीरी के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव के लिए मंगलवार को असेंबली का विशेष अधिवेशन बुलाया गया था, लेकिन उनके इस्तीफे के बाद इसे टाल दिया गया। एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया, "साफतौर पर यह आतंकी घटना है, लेकिन हम अभी यह पता लगा रहे हैं कि क्या यह आत्मघाती हमला ही था?" क्वेटा के वरिष्ठ पुलिस अधिकारी फारूक अतीक ने इस बात की पुष्टि की कि पुलिस वाहन को निशाना बनाकर धमाका किया गया था। उनका कहना है कि चूंकि बचाव अभियान अभी चल रहा है, इसलिए हताहतों की संख्या बढ़ सकती है। अस्पताल के सूत्रों ने भी छह लोगों की मौत की पुष्टि की है।   

Dakhal News

Dakhal News 10 January 2018


 चीन में अब तक 13 लोगों की मौत

  अमेरिका की तरह चीन भी बर्फीले तूफान की चपेट में आ गया है। पूर्वी चीन के अनहुई प्रांत में बर्फीले तूफान की वजह से पिछले तीन दिनों में 13 लोगों की मौत हो गई। यह वर्ष 2008 के बाद से अब तक का सबसे भयंकर बर्फीला तूफान है। तूफान में अभी तक इस प्रांत के करीब 10 लाख से अधिक लोग प्रभावित हुए हैं। तूफान से अर्थव्यवस्था को प्रत्यक्ष तौर पर 19 करोड़ डॉलर का नुकसान पहुंचा है और कृषि क्षेत्र को 12 करोड़ 20 लाख डॉलर का नुकसान हुआ है। अनहुई के अलावा हेनान, हुबेइ, हुनान, जिआंग्सु और शांक्सी प्रांतों में भी भारी बर्फबारी हुई है। राजधानी हेफेइ समेत नौ शहरों ने बर्फबारी के कारण इमरजेंसी की घोषणा की है। चीन के साथ ही अमेरिका और यूरोप में भी तूफान ने तबाही मचा रखी है। एक तरफ बॉम्ब चक्रवात ने अमेरिका के पूर्वी तट पर कहर बरपाया तो वहीं यूरोप में एलेनर तूफान ने मुश्किलें बढ़ा रखी हैं।

Dakhal News

Dakhal News 6 January 2018


ट्रम्प नहीं चाहते थे राष्ट्रपति बनना

पत्रकार माइकल वॉल्फ की किताब में जि़क्र डोनाल्ड ट्रंप अमेरिका के राष्ट्रपति नहीं बनना चाहते थे। वहीं पत्नी मेलानिया को जब अपने पति की अचंभित करने वाली जीत का पता चला तो वह रोने लगीं थीं। इसका जिक्र अमेरिकी पत्रकार माइकल वॉल्फ ने अपनी पुस्तक 'फायर एंड फ्यूरीः इनसाइड द ट्रंप व्हाइट हाउस' में किया है। पुस्तक के अनुसार ट्रंप ने चुनाव अभियान की शुरुआत में ही अपने सहयोगी सैम ननबर्ग को बता दिया था कि उनका अंतिम लक्ष्य कभी चुनाव जीतना नहीं रहा। हालांकि वह दुनिया के सबसे मशहूर शख्स बन सकते हैं। डोनाल्ड ट्रंप ने अपने लंबे समय के दोस्त फॉक्स न्यूज के पूर्व प्रमुख रोजर एलायस से मजाकिया लहजे में कहा था कि अगर टेलीविजन के क्षेत्र में कॅरियर बनाना चाहते हो तो पहले राष्ट्रपति पद का चुनाव लड़ो। किताब में कहा गया है, 'जूनियर ट्रंप ने अपने एक दोस्त को बताया था कि चुनाव परिणाम की रात आठ बजे के बाद जब अप्रत्याशित रुझानों ने ट्रंप की जीत की पुष्टि कर दी तो कि उनके पिता ऐसे लग रहे थे जैसे उन्होंने भूत देख लिया हो। मेलानिया खुश होने की बजाय रो रही थीं।' एच1बी वीजा के समर्थन में थेः अमेरिकी राष्ट्रपति का चुनाव जीतने के बाद डोनाल्ड ट्रंप ने भारतीय पेशेवरों में लोकप्रिय एच1बी का समर्थन किया था। उन्होंने 14 दिसंबर 2016 को आइटी क्षेत्र के दिग्गजों के साथ बैठक में माना था कि उनकी कंपनियों के लिए एच1बी वीजा काफी अहम है। माइकल वॉल्फ की पुस्तक में बताया गया है कि डोनाल्ड टं्रप के अपने दोस्तों की पत्नियों के साथ करीबी संबंध थे। डेली मेल में छपी किताब के अंश के अनुसार ट्रंप मित्रों की बीवियों की हमदर्दी हासिल कर उनके पास जाते थे। यह वह समय होता था, जब ट्रंप के दोस्त अपने घर पर नहीं होते थे।फिर वह अपने दोस्तों से फोन को स्पीकर पर रख बात करते थे। इसमें तमाम तरह की अश्लील बातें होती थीं। व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव सारा सैंडर्स ने पुस्तक की बातों को खारिज किया है। सैंडर्स ने कहा कि यह किताब झूठ से भरी है | इसमें उन लोगों के हवाले से भ्रामक तथ्य रखे गए हैं जिनकी व्हाइट हाउस तक पहुंच ही नहीं थी। ज्ञात हो कि पुस्तक अगले सप्ताह आने वाली है।  

Dakhal News

Dakhal News 4 January 2018


अमेरिका रोक सकता है पाक की 1628 करोड़ की सहायता

  अमेरिकी सरकार पाकिस्तान को दी जाने वाली 25.5 करोड़ डॉलर (1628 करोड़ रुपए) की आर्थिक सहायता रोकने पर गंभीरता से विचार कर रही है। आतंकी पनाहगाहों पर पाकिस्तान के कोई कड़ी कार्रवाई न करने से क्षुब्ध अमेरिकी सरकार सहायता रोकने के विकल्प पर विचार कर रही है। न्यूयॉर्क टाइम्स के मुताबिक, अमेरिकी सरकार में चर्चा शुरू हो गई है कि जब पाकिस्तान आतंकवाद निरोधी अभियान में सहयोग नहीं कर रहा तो उसे क्यों सहायता दी जाए। राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप इस बाबत पहले ही चेतावनी दे चुके हैं। वह आतंकवाद के खिलाफ मुहिम में सहयोग न करने वालों को दंडित करने की बात भी कह चुके हैं। अखबार ने लिखा है कि अमेरिका और पाकिस्तान की लंबे समय की दोस्ती में तब ठंडापन आ गया जब राष्ट्रपति ट्रंप ने उस पर आतंक, हिंसा और अराजकता फैलाने वालों को सुरक्षित पनाह देने का आरोप लगाया। इसी के बाद आतंकवाद से लड़ाई के लिए सन 2002 से पाकिस्तान को 33 अरब डॉलर (दो लाख दस हजार करोड़ रुपए) की सहायता मुहैया कराने वाले अमेरिका ने ताजा मदद को रोकने पर विचार शुरू किया है। हाल ही में अमेरिकी रक्षा मंत्री जिम मैटिस ने पाकिस्तान यात्रा में वहां की सरकार और सेना से आतंकवाद निरोधी मुहिम में ज्यादा प्रभावी कार्रवाई करने की अपेक्षा जताई थी। चंद रोज पहले अमेरिकी उप राष्ट्रपति माइक पेंस ने अफगानिस्तान में कहा था कि उनकी सरकार पाकिस्तान पर कड़ी नजर रखे हुए है। अखबार के अनुसार सरकार के वरिष्ठ अधिकारी जल्द ही इस बाबत बैठक करके तय करेंगे कि पाकिस्तान को दी जाने वाली सहायता के संबंध में अंतिम फैसला क्या किया जाए।

Dakhal News

Dakhal News 31 December 2017


मिस्र में चर्च पर आतंकी हमले में 10 की मौत

  मिस्र के दक्षिणी काइरो में आतंकियों ने हेलवान सिटी की चर्च को निशाना बनाया है। आतंकियों की आंधाधुंध फायरिंग में अभी तक 10 लोगों के मारे जाने की खबर है। मारे जाने वालों में दो पुलिसकर्मी भी हैं। पुलिस की जवाबी फायरिंग में एक आतंकी मारा गया है। फायरिंग के दौरान दूसरा आतंकी बच कर भागने में कामयाब रहा। आतंकियों ने हेलवान सिटी की मार मीना चर्च पर फायरिंग की। मिस्र के अधिकारियों के अनुसार आतंकियों ने चर्च के बाहर ड्यूटी में लगे सुरक्षाबलों पर अंधाधुंध फायरिंग शुरु कर दी जिसमें दो पुलिसकर्मी मारे गए। अभी तक किसी भी आतंकी संगठन ने इस हमले की जिम्मेदारी नहीं ली है। यह हमला नए साल पर आगामी 7 जनवरी को चर्च पर होने वाले समारोह से पहले हुआ है। मिस्र एक मुस्लिम बहुसंख्यक देश है। यहां ईसाई अल्पसंख्यक हैं। इनकी आबादी लगभग 10 प्रतिशत है। जिसमें से अधिकांश ईसाई कॉप्टिक रूढ़िवादी चर्च से संबंधित हैं। बता दें कि अप्रैल में यहां की सेंट जॉर्ज चर्च पर हुए आत्मघाती हमले में 45 लोग मारे गए थे। इस हमले की जिम्मेदारी आतंकवादी समूह इस्लामिक स्टेट ने ली थी।

Dakhal News

Dakhal News 30 December 2017


बड़ा आत्मघाती हमला काबुल 40 की मौत

अफगानिस्तान की राजधानी काबुल में हुए एक आत्मघाती हमले में 40 लोगों की मौत हो गई है जबकि 30 लोग घायल हो गए हैं। टोलो न्यूज के मुताबिक आत्मघाती हमलावर ने पीडी6 इलाके में तेबीयन केंद्र के दरवाजे पर विस्फोट किया है। बताया जा रहा है कि राजधानी काबुल में एक शिया सांस्कृतिक और धार्मिक संगठन में आत्मघाती हमला हुआ है।  घायलों को इलाज के लिए नजदीकी अस्पतला में भर्ती कराया गया है। अस्पताल के डॉक्टर्स का कहना है कि कई लोग गंभीर रूप से घायल हैं और मृतकों की संख्या बढ़ भी सकती है। हालांकि अभी किसी आतंकी संगठन ने हमले की जिम्मेदारी नहीं ली है। आपको बता दें कि कुछ दिन पहले ही काबुल में अब्दुल्हाक स्क्वायर के नजदीक राष्ट्रीय सुरक्षा निदेशालय (एनडीएस) के कार्यालय के पास आत्मघाती हमलावर ने खुद को विस्फोट से उड़ा दिया। इस हमले की जिम्मेदारी आतंकी समूह आईएस ने ली थी। यह हमला तब किया गया जब लोग दफ्तर से अपने घरों को लौट रहे थे। एक हफ्ते पहले ही आतंकियों ने काबुल स्थित एनडीएस के प्रशिक्षण केंद्र को उड़ाने की कोशिश भी की थी। अफगानिस्तान के गृह मंत्रालय के प्रवक्ता नजीब दानिश ने बताया कि धमाके के वक्त पास से गुजर रही टोयोटा कार में सवार नागरिकों की मौके पर ही मौत हो गई। कई लोग घायल भी हुए हैं। बताया जा रहा है कि हमले को एक नाबालिग आतंकी ने अंजाम दिया।  

Dakhal News

Dakhal News 28 December 2017


POK  में पाकिस्तान के खिलाफ प्रदर्शन

  पाकअधिकृत कश्मीर (पीओके) गिलगित-बल्टिस्तान में एक बार फिर पाकिस्तान के विरोध में प्रदर्शन शुरू हो गए हैं। वहां स्थानीय नागरिकों ने पाक सरकार पर भेदभावपूर्ण रवैया अपनाने पाक सरकार द्वारा लागू कराधान को खारिज करने की मांग को लेकर प्रदर्शन किया। व्यापारियों ने गिलगित स्कार्दु समेत कई शहरों में बाजार व्यावसायिक प्रतिष्ठान बंद रखे।  

Dakhal News

Dakhal News 24 December 2017


तुरंत फांसी नहीं होगी कुलभूषण जाधव को

इस्लामाबाद से खबर है कि पाकिस्तान ने इस बात को खारिज किया है कि भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव मां और पत्नी से अंतिम मुलाकात करेंगे। उसने कहा कि जाधव को तुरंत फांसी का खतरा नहीं है। गौरतलब है कि जाधव की मां और पत्नी सोमवार को पाकिस्तान में उनसे मुलाकात करेंगी। पाक विदेश विभाग के प्रवक्ता मुहम्मद फैजल ने कहा कि पाकिस्तान ने पूरी तरह मानवीय आधार पर मां और पत्नी को जाधव से मिलने की इजाजत दी है। परिवार से मिलने के बाद जाधव को फांसी पर लटकाने के सवाल का वह जवाब दे रहे थे। फैजल ने आश्वस्त किया कि जाधव को तुरंत फांसी देने की बात नहीं है। उनकी दया याचिका अभी लंबित है। उन्होंने कहा कि विदेश मंत्रालय में जाधव और उनके परिवार की मुलाकात होगी। पाकिस्तान स्थित भारतीय उच्चायोग के एक राजनयिक को परिवार वालों से साथ जाने की इजाजत दी जाएगी। फैजल ने कहा कि पाकिस्तान जाधव की मां और पत्नी को मीडिया से बातचीत की इजाजत देने को तैयार है। इस बारे में भारत के फैसले का इंतजार है। 47 वर्षीय जाधव को पाक सैनिक अदालत ने जासूसी और आतंकवाद के आरोप में अप्रैल में सजा सुनाई है।  

Dakhal News

Dakhal News 21 December 2017


सहरिया बनेंगे जमीन के मालिक

   मुख्‍यमंत्री शिवराज सिंह चौहान आज शिवपुरी जिले के कोलारस क्षेत्र के प्रवास के दौरान ग्राम रन्‍नौद की सहरिया जनजाति की बस्‍ती में अचानक पहुँचे। मुख्यमंत्री बस्ती में सहरिया परिवारों से मिले और उनकी समस्याओं को सुना। मुख्यमंत्री से मिलकर पुलकित हुई गिरजाबाई गिरजाबाई को मिलेगी 25 हजार रूपये की आर्थिक सहायता और बच्चे को पाँच सौ रूपये मासिक गिरजा बाई ने कभी सोचा भी नहीं था कि मुख्यमंत्री उसे मिलेंगे और बिना बताये ही उसकी समस्या को जानकर उसका समाधान भी कर देंगे। उसको कतई उम्मीद भी नहीं थी कि मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान कभी उसके पास आयेंगे और उसके बच्चे को दुलार भी करेंगे। शिवपुरी जिले के रन्नौद से कार द्वारा हेलीपेड के लिये लौटते समय मुख्यमंत्री श्री चौहान की नजर एक छोटे बच्चे को गोद में लिये एक ग्रामीण महिला पर पड़ी। उन्होंने तत्काल गाड़ी रूकवायी। वे उस ग्रामीण महिला के पास जा पहुँचे तथा उसके बच्चे को लाड़-प्यार किया। श्री चौहान को महिला की हालत देखकर उसकी परिस्थिति को भाँपने में देर नहीं लगी। उन्होंने मौके पर ही महिला को 25 हजार रूपये की एक मुश्त आर्थिक सहायता तथा बच्चे के पोषण के लिये प्रति माह पाँच सौ रूपये की विशेष आर्थिक सहायता देने के लिये कलेक्टर को निर्देशित किया। गाम डगपीपरी की गिरजाबाई पति स्वर्गीय श्री हरप्रसाद जाटव गुरूवार को श्री चौहान से मिलकर खुशी से फूली नहीं समायी। मुख्यमंत्री से मिले भाई-बहन के स्नेह से उसके अपने मायके की याद ताजा हो गयी। वह अपने घर परिवार को यह बताते नहीं अघाती कि प्रदेश के मुख्यमंत्री उसके भाई हैं, जिन्होंने बहन की चिंता कर उसकी समस्या का निदान किया जिसे वह जीवन भर नहीं भूलेगी। मुख्यमंत्री की सहजता देखकर वहाँ मौजूद लोग भी अचंभित हुए। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने सहरिया परिवारों से कहा कि वे जिस जमीन पर रह रहे हैं, उन्हें पट्टा देकर उसी जमीन का मालिक बनाया जाएगा। मुख्यमंत्री ने जिलाधिकारियों को इस बावत तुरंत कार्यवाही करने के निर्देश दिये। उन्होंने अधिकारियों से कहा कि सहरिया परिवारों की जमीन पर अगर अन्य लोगों ने कब्जा किया हुआ है, तो ऐसे कब्जे तत्काल हटवायें। मुख्यमंत्री ने सहरिया जनजाति के परिवारों को बताया कि उन्हें साग-भाजी और दूध खरीदने के लिये प्रति माह एक हजार रूपये की राशि परिवार की महिला सदस्‍य के बैंक खाते में जमा करवाई जाएगी। उन्होंने कहा कि सहरिया जनजाति के परिवारों को एक रूपये प्रति किलो गेहूँ, चावल और नमक भी प्रदाय किया जाएगा।मुख्यमंत्री ने सहरिया परिवारों से आग्रह किया कि अपने बच्‍चों को पढ़ने-लिखने के लिये स्कूल भेजें। इसके लिये राज्‍य सरकार सभी तरह की सहायता उपलब्‍ध करवाएगी। इस दौरान उन्‍होंने सहरिया बस्‍ती में हैण्‍डपंप लगाने के निर्देश भी दिये।  

Dakhal News

Dakhal News 21 December 2017


प्रद्युम्न हत्या

    गुरुग्राम में रेयान इंटरनेशनल स्कूल के दूसरी क्लास के छात्र प्रद्युम्‍न की हत्या के मामले में बुधवार को जुवेनाइल जस्टिस बोर्ड (जेजेबी) ने बड़ा फैसला सुनाया। कोर्ट ने इस मामले में फैसला सुनाते हुए कहा है कि 16 साल के आरोपी छात्र पर बालिग की तरह केस चलेगा। यानी प्रद्युम्‍न की हत्या का आरोप अगर साबित होता है तो 16 साल के आरोपी को उम्र कैद से लेकर फांसी तक की सजा हो सकती है। जुवेनाइल जस्टिस बोर्ड ने इस मामले में आरोपी छात्र को 22 नवंबर को कोर्ट में पेश करने को कहा है। इस मामले में सीबीआई और आरोपी छात्र के वकील की दलीलें सुनने के बाद जुवेनाइल जस्टिस बोर्ड ने आठ दिसंबर को अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था, जिसे आज सुनाया गया। इस मामले में प्रद्युम्‍न के पिता वरुण ठाकुर ने न्यायपालिका का स्वागत करते हुए कहा कि-' मुझे पता था कि इंसाफ की लड़ाई लंबी चलेगी, मगर हम जरुर अपने बेटे को न्याय दिलाने में कामयाब होंगे, ताकि आगे किसी बच्चे के साथ ऐसा न हो।' बता दें कि प्रद्युम्न हत्याकांड में मामले की जांच करने के बाद सीबीआई ने 7 नवंबर को स्कूल के ही 11वीं कक्षा के छात्र को हिरासत में लिया था।  

Dakhal News

Dakhal News 21 December 2017


पूर्वी यरुशलम फलस्तीन की राजधानी

  इस्तांबुल में आर्गनाइजेशन ऑफ इस्लामिक कोआपरेशन (ओआइसी) के शिखर सम्मेलन में मुस्लिम देशों ने अमेरिका के फैसले के विपरीत पूर्वी यरुशलम को फलस्तीन की राजधानी घोषित कर दिया है। सम्मेलन में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप का यरुशलम को इजरायल की राजधानी की मान्यता देने के फैसले को मध्य-पूर्व शांति प्रक्रिया से अमेरिका का पीछे हटना बता रहा है। शिखर सम्मेलन का आयोजन तुर्की के राष्ट्रपति तैयप एर्दोगन ने किया। तुर्की अमेरिका नीत नाटो का सदस्य देश है। बावजूद इसके यरुशलम के मुद्दे पर एर्दोगन ने अमेरिका की कड़ी आलोचना की है। शिखर सम्मेलन के लिए तैयार किए गए घोषणा पत्र के मसौदे में कहा गया है, '50 से अधिक मुस्लिम देशों के नेताओं, मंत्रियों और अधिकारियों ने पूर्वी यरुशलम को फलस्तीन की राजधानी घोषित किया है। सभी देशों को फलस्तीन और पूर्वी यरुशलम को देश और उसकी राजधानी के रूप में मान्यता देने के लिए आमंत्रित किया जाता है।' तुर्की के विदेश मंत्री मेवलुट कावुसोगू ने मसौदे के घोषणा पत्र की एक प्रति ट्विटर पर साझा की है। उन्होंने ट्वीट किया, 'बैठक में अमेरिका के कदम को खारिज और कड़े शब्दों में निंदा की गई है।' इसमें बताया गया है कि अमेरिका का फैसला सभी शांति प्रयासों को कमजोर, चरमपंथ व आतंकवाद को बढ़ावा तथा अंतरराष्ट्रीय शांति और सुरक्षा के लिए खतरे को बढ़ावा देने वाला जानबूझकर उठाया गया कदम है।'

Dakhal News

Dakhal News 14 December 2017


ins klvari

  गुरुवार को भारतीय नौसेना में डीजल से चलने वाली पनडुब्बी आईएनएस कलवरी को शामिल कर लिया गया। पिछले 17 सालों में ये पहली भारतीय सबमरीन है, जिसे नौसेना में शामिल किया गया है। स्कार्पीन क्लास की इस पहली पनडुब्बी में आधुनिक तकनीक का इस्तेमाल किया गया है। इसी वजह से इसकी मारक क्षमता काफी बढ़ गई है और इसे दुनिया में बेहतर माना जा रहा है। इसे मझगांव डॉक लिमिटेड ने बनाया है। इस पनडुब्बी की खासियतें जानकार आप हैरान हो जाएंगे। इसे समंदर में भारत का 'नया शार्क' कहा जा रहा है। आईएनएस कलवरी डीजल-इलेक्ट्रिक मोटर के दम पर चलती है और जैसे समंदर में शार्क अपने शिकार को बिना खबर लगे दबोच लेते ही। वैसे ही समुद्र के अंदर गहरे जाने वाली ये पनडुब्बी बिना शोर किए दुश्मन को तबाह करने की ताकत रखती है। आईएनएस कलवरी की कुल लंबाई 67.5 मीटर है, वहीं उसकी ऊंचाई 12 मीटर से ज्यादा है। आईएनएस कलवरी को DCNS( French Naval Defence And Energy Company) ने मझगांव डॉक लिमिटेड के साथ मिलकर तैयार किया है। पानी की अंदर इसकी ताकत को देखते हुए ही इसे कलवरी नाम दिया गया है। जिसे मलयालम में टाइगर शार्क कहा जाता है। पानी के भीतर इसकी तेजी, हमला करने की क्षमता गजब की है। कलवरी का ध्येय वाक्य है 'हमेशा आगे', जो ये बताने के लिए काफी है, इसे किस सोच के साथ तैयार किया गया है। भारतीय नौसेना में शामिल होने वाली 6 स्कार्पीन क्लास पनडुब्बी में से ये पहली है। भारत की दूसरी पनडुब्बियों से आईएनएस कलवरी कम शोर करती है और ये उन्नत तकनीक से लैस है। कलवरी में इंफ्रारेड और कम रोशनी में काम करने वाले कैमरे लगे हैं, जो समुद्र की सतह पर दुश्मन के जहाज को पकड़ने में माहिर हैं | आईएनएस कलवरी में दुश्मन को खोजने और उस पर हमला करने वाला पेरीस्कोप लगा है।कलवरी में एंटी- शिप मिसाइल और लंबी दूरी तर मार करने वाले टॉरपीडो भी लगे हुए हैं।  

Dakhal News

Dakhal News 14 December 2017


 28 खिलाड़ी शिखर सम्मान से अलंकृत

मध्यप्रदेश के 28 खिलाड़ी शिखर सम्मान से अलंकृत  मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने एकलव्य पुरस्कार विजेताओं को शासकीय नौकरी देने, अंतराष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में पदक विजेताओं को बिना परीक्षा के पुलिस में उपनिरीक्षक, आरक्षक के पद पर नियुक्ति देने और अन्य शासकीय विभागों में भी ऐसी व्यवस्था करने की घोषणा की है। श्री चौहान आज भोपाल में मध्यप्रदेश शिखर खेल अलंकरण समारोह 2017 कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। इस अवसर पर विधानसभा उपाध्यक्ष श्री राजेन्द्र सिंह, विधायक, गणमान्य नागरिक, खेल प्रेमी और खिलाड़ी उपस्थित थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि जिन्दगी खेल के बिना अधूरी है। राजनीति में खेल आ जाये तो चमत्कार होता है, लेकिन खेलों में राजनीति नहीं आनी चाहिए। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में जिस विजन के साथ राष्ट्र निर्माण का कार्य हो रहा है, उसमें 2020 के ओलंपिक में भारत पदकों का रिकार्ड बनायेगा। खेलों में देश में नया इतिहास रचा जा रहा है। मध्यप्रदेश भी इसमें अग्रणी रहेगा। मध्यप्रदेश के खिलाड़ियों के प्रदर्शन में यह दिख रहा है। भारत की महिला हॉकी टीम में आधे खिलाड़ी मध्यप्रदेश की हॉकी अकादमियों के हैं। अंतराष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में प्रदेश के 80 खिलाड़ियों ने प्रतिभागिता की, जिनमें से 46 ने पदक प्राप्त किये। उन्होंने पालकों से कहा कि बच्चों को खेलने-कूदने और मस्ती करने का अवसर भी दें। जो बच्चे पढ़ना चाहते हैं और जो खेलना चाहते हैं, दोनों के साथ प्रदेश की सरकार है। मेधावी बच्चों की उच्च शिक्षा की फीस राज्य सरकार द्वारा भरवाये जाने की योजना का उल्लेख करते हुए उन्होंने कहा कि खेलने वाले बच्चों को भी पीछे नहीं रहने दिया जायेगा। बच्चे राज्य का भविष्य हैं, उनकी हर आवश्यकता को पूरा किया जाएगा। केन्द्रीय युवा कार्य एवं खेल राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री राज्यवर्धन सिंह राठौड़ ने कहा कि कानून बनाकर केन्द्रीय सरकारी नौकरियों में खिलाड़ियों के लिये निर्धारित पदों के आरक्षण की व्यवस्था की जायेगी। खिलाड़ियों के लिये आरक्षित पद पर उम्मीदवार नहीं मिलने पर रिक्त पद अगले वर्ष की रिक्तियों में जोड़ दिये जायेंगे। उन्होंने बताया कि खेलों से संबंधित मोबाइल एप्लीकेशन भी तैयार किया जा रहा है जिसमें खेल मैदानों, अन्य सुविधाओं और प्रशिक्षकों की जानकारी उपलब्ध रहेगी। श्री राठौर ने कहा कि भारत सरकार खेलों इंडिया के विजन पर कार्य कर रही है। देश में पहली बार अंडर-17 की खेल प्रतियोगिताओं का विशाल टूर्नामेंट 31 जनवरी से 8 फरवरी 2018 तक आयोजित किया जायेगा। इस टूर्नामेंट में विभिन्न विद्यालयों, फेडरेशनों और स्पोर्ट्स अथॉरिटी ऑफ इंडिया की टीमें भाग लेंगी। खिलाड़ियों को समर्थन और संसाधन उपलब्ध कराने के लिये प्रथम चरण की स्पांसरशिप भी केन्द्र सरकार द्वारा दी जायेगी। हर वर्ष देश भर से एक हजार खिलाड़ियों को पांच लाख रुपये प्रति वर्ष के मान से आठ वर्ष की स्पांसरशिप दी जायेगी। विद्यालयों में आगामी ग्रीष्मावकाश से पूर्व आठ से चौदह वर्ष की उम्र की खेल प्रतिभाओं की खोज का कार्य भी किया जायेगा। उनकी शारीरिक क्षमताओं और दक्षताओं के आधार पर उनको उपयुक्त खेल का प्रशिक्षण दिया जायेगा। इसी तरह खेल प्रतिभाओं को खोजने वाले प्रशिक्षकों को भी उचित प्रोत्साहन और सम्मान दिये जाने की व्यवस्था भी की जा रही है ताकि पदक विजेता खिलाड़ी के प्रशिक्षक के लिये निर्धारित प्रोत्साहन राशि का बीस प्रतिशत हिस्सा प्रारंभिक कोच को मिले। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में खेलो इंडिया अभियान में खेल संस्कृति को प्रोत्साहित करने के प्रयास किये जा रहे है। अच्छा इंजीनियर, अच्छा डॉक्टर और अच्छा नागरिक बनाने के लिये खेल आवश्यक हैं। टीम के लिये खेलने, गिर कर उठने और हार कर जीतने की शिक्षा खेल मैदान में ही मिलती है। ऐसे गुरुओं के सम्मान और गुरु-शिष्य की संस्कृति को पुनर्स्थापित करने के प्रयास किये जा रहे हैं। श्री राठौड़ ने मुख्यमंत्री श्री चौहान के नेतृत्व की सराहना करते हुए बताया कि मध्यप्रदेश राज्य में ही उनकी विद्यालयीन और सैनिक शिक्षा संपन्न हुई है। खेल एवं युवा कल्याण मंत्री श्रीमती यशोधरा राजे सिंधिया ने कहा कि दिल और दिमाग में जीत हासिल करने का जज्बा ही जीत को पक्का करता है। पैरा ओलम्पियन खिलाड़ियों के जीवन संघर्ष का उल्लेख करते हुये उन्होंने कहा कि इन खिलाड़ियों ने चुनौतियों का सामना संकल्प और कठोर परिश्रम से किया और सफलता प्राप्त की। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश सरकार ने आज दो सौ करोड़ का बजट खेलों को उपलब्ध कराया है। इस अवसर पर रियो पैरा ओलम्पिक के पदक विजेताओं सुश्री दीपा मलिक को चालीस लाख रुपये, श्री देवेन्द्र झांझरिया को पचास लाख रुपये, मरियप्पन थंगावेलू को पचास लाख रुपये और वरुण सिंह भाटी को पच्चीस लाख रुपये तथा रियो ओलम्पिक-2016 में महिला कुश्ती में कांस्य पदक विजेता सुश्री साक्षी मलिक को पच्चीस लाख रुपये की सम्मान निधि से सम्मानित किया गया। भारतीय महिला हॉकी दल में मध्यप्रदेश राज्य महिला हॉकी अकादमी की सुश्री अनुराधा देवी, पी. सुशीला चानू, रेणुका यादव तथा एल. फैली को 5-5 लाख रुपये की सम्मान निधि दी गई। वर्ष 2017 के लिये एकलव्य, विक्रम एवं विभिन्न खेल पुरस्कारों के लिए प्रदेश के कुल 28 खिलाड़ियों को शिखर सम्मान से अलंकृत किया गया।    

Dakhal News

Dakhal News 5 December 2017


उत्तर कोरिया फिर करेगा मिसाइल टेस्ट

टोक्‍यो से खबर है कि उत्तर कोरिया की ओर से एक और बैलिस्‍टिक मिसाइल लॉन्च की तैयारियों चल रही है ,यह संकेत जापान को मिले हैं। जापान के सरकारी सूत्रों ने मंगलवार को बताया, जापान को कुछ रेडियो सिग्‍नल प्राप्‍त हुए हैं जो उत्तर कोरिया द्वारा एक और बैलिस्‍टिक मिसाइल परीक्षण की संभावना की पुष्‍टि कर रहे हैं। हालांकि ये सिग्‍नल आम नहीं हैं और सैटेलाइट इमेज से किसी नई गतिविधि का पता नहीं चल रहा है। अप्रैल से एक माह में दो या तीन मिसाइलों की फायरिंग के बाद सितंबर में उत्तर कोरियाई मिसाइल लांचिंग रुक गयी जब प्‍योंगयांग द्वारा फायर किया गया रॉकेट जापान के उत्तरी होक्‍काइदो आइलैंड के ऊपर से गुजरा था। जापान की क्‍योदो न्‍यूज एजेंसी के अनुसार, रेडियो सिग्‍नल मिलते ही जापान सरकार अलर्ट हो गयी। इन रेडियो सिग्‍नल के अनुसार जल्‍द ही लांच होने वाला है। रिपोर्ट के अनुसार, ये सिग्‍नल उत्तर कोरियाई मिलिट्री द्वारा विंटर मिलिट्री ट्रेनिंग से संबंधित भी हो सकता है। दक्षिण कोरिया के न्‍यूज एजेंसी ने दक्षिण कोरिया के सरकारी सूत्रों का हवाला देते हुए बताया कि अमेरिका, दक्षिण कोरिया व जापान को भी संभावित मिसाइल लॉन्च के संकेत मिले हैं।

Dakhal News

Dakhal News 28 November 2017


atanki hafiz said

खबर लाहौर से । 26/11 के मंबई हमलों के मास्टरमाइंड और मोस्ट वांटेंड आतंकी हाफिज सईद ने संयुक्त राष्ट्र (यूएन) से में याचिका दायर कर कहा है कि आतंकियों की लिस्ट से उसका नाम हटा दिया जाए। हाफिज के संगठन जमात-उद-दावा की तरफ से यूएन में इस बाबत एक याचिका लगाई है, जिसे लाहौर की एक कानूनी फर्म के माध्यम से दायर किया गया है। आपको बता दें कि जमात-उद-दावा के सरगना सईद को संयुक्त राष्ट्र ने नवंबर 2008 में हुए मुबंई हमलों के बाद यूएनएससीटी 1267 (यूएन सिक्यॉरिटी काउंसिल रेजॉलूशन) के तहत दिसंबर 2008 में आतंकी घोषित किया था। हाफिज सईद को हाल ही में नजरबंदी से रिहाई मिली है। लश्कर सरगना हाफिज सईद के सिर पर अमेरिका ने एक करोड़ डॉलर (64.50 करोड़ रुपया) का इनाम घोषित कर रखा है। हाफिज सईद जनवरी से नजरबंद था। पाकिस्तान सरकार ने शुक्रवार को उसे किसी दूसरे मामले में गिरफ्तार करने के बजाय रिहा करने का फैसला किया था। संयुक्त राष्ट्र लश्कर के मुखौटा संगठन जमात-उद-दावा को पहले ही प्रतिबंधित कर चुका है। सूत्रों ने बताया कि फ्रांस ने हाफिज सईद को आजाद करने के पाकिस्तान के कदम पर नाखुशी जताई है। फ्रांसीसी अधिकारियों ने भारत के साथ मिलकर आतंकवाद से मुकाबला करने के प्रयास को जारी रखने के लिए सहयोग बढ़ाने की बात कही है। बता दें कि सईद ने पाकिस्तान में नजरबंदी से रिहा होते ही संयुक्त राष्ट्र में यह याचिका दायर की है।  

Dakhal News

Dakhal News 28 November 2017


ट्रंप ने पीएम मोदी की थपथपाई पीठ

ट्रंप ने पीएम मोदी की थपथपाई पीठ, विकास दर को बताया बेहतर वियतनाम में चल रहे APEC समिट में अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने भारत के पीएम मोदी की जमकर तारीफ की। अमेरिकी राष्ट्रपति ने देश को तरक्की की रफ्तार पर बढ़ाने के लिए पीएम मोदी की नीतियों को सही माना। APEC के सालाना सम्मेलन से अलग शुक्रवार को मुख्य कार्यकारी अधिकारियों( सीईओ) के सम्मेलन को संबोधित करते हुए भारत की 'असाधारण' आर्थिक प्रगति की भी सराहना की है। साथ ही एशिया-पैसिफिक के बजाय 'इंडो-पैसिफिक' की पैरोकारी कर दुनिया और क्षेत्रीय ताकतों को संदेश दिया है। अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा कि पीएम मोदी भारत जैसे एक विशाल देश के लोगों को साथ लाने की दिशा में सफलतापूर्वक काम कर रहे हैं। ट्रंप के मुताबिक, APEC से बाहर के देश भी इंडो-पैसिफिक क्षेत्र में जबरदस्त प्रगति कर रहे हैं। उन्होंने कहा, 'अर्थव्यवस्था को बाहरी दुनिया के लिए खोलने के बाद से भारत ने असाधारण विकास किया है। इससे देश में लगातार बढ़ रहे मध्य वर्ग के लिए मौकों की नई दुनिया सृजित हुई है। भारत स्वतंत्रता की 70वीं वर्षगांठ मना रहा है, जो यह दर्शाता है कि 1.3 अरब की जनसंख्या वाला देश सफल संप्रभु लोकतांत्रिक राष्ट्र है। भारत दुनिया का सबसे बड़ा लोकतांत्रिक देश भी है।' प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भारत-आसियान और ईस्ट एशिया के शिखर सम्मेलनों में हिस्सा लेने के लिए रविवार को फिलीपींस रवाना होंगे। ट्रंप भी पूर्वी एशिया शिखर सम्मेलन में हिस्सा लेंगे। अमेरिका के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार एचआर मैकमास्टर के बाद राष्ट्रपति ट्रंप ने भी 'इंडो-पैसिफिक' की पैरोकारी की है। यहां इंडो का मतलब हिद महासागर और पैसिफिक का प्रशांत महासागर से है। ट्रंप ने कहा, 'इंडो-पैसिफिक क्षेत्र में लंबे समय से अमेरिका के साझीदार और मित्र देश रहे हैं। हाल के दशकों में क्षेत्र के विकास की कहानी उस बात को दिखाती है कि लोगों द्वारा अपने भविष्य की जिम्मेदारी खुद लेने पर क्या संभव हो सकता है।' ट्रंप द्वारा इंडो-पैसिफिक के इस्तेमाल ने भारत, अमेरिका, जापान और ऑस्ट्रेलिया के बीच उस चतुष्कोणीय रणनीतिक सहयोग की अटकलों को हवा दे दी है, जिसके तहत चीन के बढ़ते प्रभुत्व पर नकेल लगाने की बात कही जा रही है। APEC में दुनिया के 21 प्रभावशाली देश शामिल हैं। वर्ष 1989 में अस्तित्व में आए इस संगठन में एशिया और प्रशांत क्षेत्र में आने वाले देश शामिल हैं। इसका मुख्यालय सिंगापुर में है। इन देशों का वैश्विक अर्थव्यस्था के जीडीपी में 60 फीसद तक की हिस्सेदारी है। डेनांग में APEC की बैठक में भाग लेने के लिए रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन भी आएंगे, लेकिन उनकी राष्ट्रपति ट्रंप के साथ कोई अलग बैठक नहीं होगी। क्रेमलिन से जारी बयान में शुक्रवार को यह खास बैठक होने की बात कही गई थी, लेकिन शुक्रवार को सुबह अमेरिकी राष्ट्रपति के व्हाइट हाउस कार्यालय ने इसे नकार दिया। अब परिषद के मंच पर दोनों नेता साथ होंगे, लेकिन अलग से उनकी कोई मुलाकात नहीं होगी।

Dakhal News

Dakhal News 11 November 2017


जमात-ए-इस्लामी

खबर लाहौर से है , पाकिस्तान में मुख्य धारा की छह धार्मिक पार्टियों ने एक दशक बाद गिले-शिकवे भुला मुत्तहिदा मजलिस-ए-अमल (एमएएम) के जरिये अगले साल होने जा रहे चुनाव में उतरने का फैसला लिया है। मतभेदों की वजह से इनका गठबंधन टूट गया था। गठबंधन में शामिल सभी दल अपने पुराने घोषणापत्र पर ही चुनाव में उतरेंगे। गठबंधन में शामिल होने के लिए दूसरी धार्मिक पार्टियों से भी संपर्क साधने का फैसला लिया गया। यह घोषणा लाहौर स्थित जमात-ए-इस्लामी के मुख्यालय में हुई बैठक में की गई। एमएएम नेताओं ने उम्मीद जताई कि वर्ष 2018 के चुनाव में पार्टी बेहतर प्रदर्शन करेगी। जमात-ए-इस्लामी के चीफ सीनेटर सिराजुल हक ने कहा कि छह सदस्यीय कमेटी की सिफारिश पर गठबंधन का फैसला लिया गया है। गौरतलब है कि आगामी चुनाव के लिए इसी हफ्ते सुन्नी विचारधारा वाले दलों ने निजाम-ए-मुस्तफा नाम से महागठबंधन बनाया था। धार्मिक मामलों के पूर्व मंत्री हमीद सईद काजमी को इस गठबंधन का अस्थाई प्रमुख चुना गया है।

Dakhal News

Dakhal News 11 November 2017


अमेरिकी लड़ाकू विमान

खबर सियोल से । नॉर्थ कोरिया और अमेरिकी के बीच जारी बायनबाजी के साथ ही तनाव भी गहराया हुआ है। उत्तर कोरिया द्वारा फिर से मिसाइल परीक्षण की आशंकाओं के बीच एक बार फिर से अमेरिकी बमवर्षक विमानों ने कोरियाई प्रयद्वीप के ऊपर से उड़ान भरी है। यह जानकारी दक्षिण कोरिया की समाचार एजेंसी योनहाप ने दी है। हालांकि, अमेरिकी सेना ने अब तक इसकी पुष्टि नहीं की है। अमेरिका के इस कदम से क्षेत्र में तनाव और बढ़ने की आशंका है। इसकी जानकारी देते हुए दक्षिण कोरिया के संयुक्त चीफ ऑफ स्टाफ ने प्रेस विज्ञप्ति जारी कर कहा है कि ग्वाम हवाई पट्टी से अमेरिकी बमवर्षक बी-1 ने उड़ान भरी इस दौरान इनके साथ दक्षिण कोरिया के एफ-15 भी थे।  

Dakhal News

Dakhal News 11 October 2017


कैलिफोर्निया

  अमेरिका के उत्तरी कैलिफोर्निया के जंगलों में सोमवार को फिर भीषण आग लग गई है। तेज हवाओं के चलते आग तेजी से फैलती जा रही है। आग इतनी भयानक है कि डिज्नीलैंड के कैलिफोर्निया एडवेंचर पार्क के ऊपर का आसमान नारंगी रंग का हो गया। आग से अब तक 13 लोगों की मौत हो चुकी है जबकि 1500 से अधिक मकान खाक हो चुके हैं। करीब 20 हजार लोगों को पलायन करना पड़ा है। कई लोग लापता हैं। मृतकों में 99 और 100 साल का एक दंपती भी शामिल है। 100 से अधिक लोग घायल हैं। प्रांत में आग लगने की बीते एक दशक की यह सबसे भयावह घटना बताई जा रही है। कैलिफोर्निया डिपार्टमेंट ऑफ फॉरेस्ट्री एंड प्रोटेक्शन के मुताबिक, इस साल जंगलों में आग के 7,484 मामले सामने आए, जिसमें 7.71 एकड़ इलाका जल गया। पांच काउंटी में आपात स्थिति की घोषणा कैलिफोर्निया के गवर्नर जेरी ब्राउन ने वाइन, नेपा, सोनोमा, यूबा और ऑरेंज काउंटी में आपात स्थिति की घोषणा कर दी है। उन्होंने राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप से राहत और बचाव कार्य में मदद का आग्रह किया है। कैलिफोर्निया के वन विभाग के अनुसार, सबसे ज्यादा नुकसान सांता रोजा में हुआ है। आग की भयावहता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि लपटों को अंतरिक्ष से भी देखा गया है। नेशनल ओशनिक एंड एटमॉसफेरिक एडमिनिस्ट्रेशन ने सैटेलाइट से आग देखे जाने की सूचना दी। कैलिफोर्निया में अग्निशमन विभाग के प्रवक्ता डेनियल बर्लेंट के अनुसार, उत्तरी कैलिफोर्निया के जंगलों में रविवार देर रात आग भड़की। इस दौरान 80 किमी घंटे की गति से चल रहीं तेज हवाओं के चलते आग 73 हजार एकड़ के दायरे में फैल गई। इसे बुझाने के लिए सैकड़ों दमकलकर्मी सोमवार को जूझते रहे। सोनोमा काउंटी के दो अस्पतालों को भी खाली कराना पड़ा है। कैलिफोर्निया के जंगलों में लगी आग को दुनिया का एकमात्र विमान 747 सुपर टैंकर ही बुझा सकता है। यह एक बार में 75 हजार लीटर से अधिक (20 हजार गैलन) पानी गिरा सकता है। कैलिफोर्निया प्रशासन इस विमान की मदद से आग से निपटने की कोशिश कर रहा है। सोमवार को इसने आग के ऊपर छह चक्कर लगाकर पानी गिराया। दिलचस्प बात यह है कि सुपर टैंकर को जेल, फोम और पानी से महज 30 मिनट में भरा जा सकता है और यह 600 मील प्रति घंटे की रफ्तार से उड़ सकता है। कैलिफोर्निया के दक्षिणी तट से चलने वाली अत्यधिक सूखी हवा के कारण यहां अक्सर आग लगती है। यह सूखी हवा अत्यधिक गर्म होती है। इसी से सूखे जंगलों में आग लग जाती है। विशेषज्ञों के मुताबिक, हवा की रफ्तार तेज होने पर घर्षण से निकली हर चिंगारी शोला बन जाती है।

Dakhal News

Dakhal News 11 October 2017


उत्तर कोरिया कीं मिसाइलें

  अमेरिका की ओर से आ रहे सैन्य कार्रवाई के संकेतों के बीच उत्तर कोरिया अपनी सुरक्षा के बंदोबस्त पुख्ता कर रहा है। इसके चलते उसने रिसर्च एंड डेवलपमेंट सेंटर से मिसाइलें निकालकर उन्हें राजधानी प्योंगयांग में तैनात किया है। दक्षिण कोरियाई मीडिया के अनुसार, उत्तर कोरिया अपनी ताकत प्रदर्शित करने के लिए फिर से कोई नई कोशिश कर सकता है। मिसाइलों का स्थान परिवर्तन किए जाने की जानकारी अमेरिका और दक्षिण कोरिया के खुफिया अधिकारियों को अपने सूत्रों से मिली है। जिन मिसाइलों को तैनात किया गया है वे लंबी दूरी तक मार करने वाली बैलिस्टिक मिसाइल ह्वासोंग-12 या ह्वासोंग-14 हो सकती हैं। ये मिसाइलें सनुम-डोंग स्थित रिसर्च एंड डेवलपमेंट सेंटर में तैयार की जाती हैं। दक्षिण कोरिया के अधिकारियों को आशंका है कि सत्तारूढ़ वर्कर्स पार्टी की वर्षगांठ के मौके पर उत्तर कोरिया 10 अक्टूबर को कोई बड़ा परीक्षण या घोषणा कर सकता है। युद्ध के कगार पर पहुंचे कोरियाई प्रायद्वीप में एक बार फिर से अमेरिका और दक्षिण कोरिया की सेनाओं ने संयुक्त युद्धाभ्यास किया है। अमेरिका की प्रशांत क्षेत्रीय कमान की तरफ से जारी बयान में कहा गया है कि युद्धाभ्यास में पहली बार कम दूरी की वायुसेना की हमले और बचाव की प्रणालियों का इस्तेमाल किया गया। अमेरिकी विदेश मंत्री पहुंचे चीन इस बीच, उत्तर कोरिया पर आर्थिक प्रतिबंधों को और कड़ाई से लागू कराने के लिए चीन पर दबाव बनाने को अमेरिकी विदेश मंत्री रेक्स टिलरसन बीजिंग पहुंच गए हैं। वह कोशिश करेंगे कि चीन कम अवधि में ही प्रभावी होने वाले कदम उठाए जिससे उत्तर कोरिया पर हथियारों के विकास कार्यक्रम से पीछे हटने का दबाव बढ़े। गुरुवार को ही चीन ने उत्तर कोरिया की कंपनियों से जनवरी 2018 तक अपने देश से काम समेटने के लिए कहा है। उत्तर कोरिया से विवाद के बीच अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप 3 नवंबर से अपना एशिया दौरा शुरू करेंगे। राष्ट्रपति के तौर पर उनका यह पहला एशिया दौरा है। इस दौरान वह जापान, दक्षिण कोरिया, चीन, वियतनाम और फिलीपींस की यात्रा करेंगे। 11 दिन के एशिया दौरे में ट्रंप कई द्विपक्षीय व बहुपक्षीय चर्चाओं में हिस्सा लेंगे जहां उनका जोर उत्तर कोरिया पर दबाव बनाने पर होगा।

Dakhal News

Dakhal News 30 September 2017


जापान में मध्यावधि चुनाव

  उत्तर कोरिया के साथ बढ़े तनाव के बीच जापान के प्रधानमंत्री शिंजो एबी ने सोमवार को देश में मध्यावधि चुनाव कराने का एलान कर दिया। शिंजो को उम्मीद है कि कमजोर विपक्ष और उत्तर कोरिया पर कड़े रुख के कारण वह सत्ता में बने रहेंगे। दिसंबर, 2012 में सत्ता में आए शिंजो की लोकप्रियता कई घोटालों के कारण पिछले कुछ महीनों में काफी घट गई थी। जुलाई में तो यह न्यूनतम स्तर पर बताई जा रही थी। लेकिन हाल के दिनों में उत्तर कोरिया के साथ तनातनी ने स्थानीय राजनीति का रुख शिंजो के पक्ष में कर दिया। हालिया सर्वेक्षणों में उनके सत्ता में बने रहने का अनुमान लगाया गया है। एबी ने सोमवार को कहा, 'मैं 28 सितंबर को संसद के निचले सदन प्रतिनिधि सभा को भंग कर दूंगा।' उन्होंने हालांकि मतदान की तारीख की घोषणा नहीं की है। लेकिन मीडिया में आई खबरों के अनुसार, जापान में 22 अक्टूबर को चुनाव कराए जाएंगे। हालिया सर्वे बताते हैं कि देश के मतदाता उत्तर कोरिया को लेकर एबी के कड़े रुख का समर्थन करते हैं। उत्तर कोरिया ने इसी महीने जापान के ऊपर से दो बैलिस्टिक मिसाइलें दागी थीं और जापान को समुद्र में डुबोने की धमकी दी थी। बिजनेस अखबार निक्की के सर्वे के मुताबिक, 44 फीसद वोटर एबी की लिबरल डेमोक्रेटिक पार्टी को वोट देने की सोच रहे हैं। जबकि महज आठ फीसद मतदाता विपक्षी डेमोक्रेटिक पार्टी के पक्ष में खड़े दिखाई पड़ रहे हैं।

Dakhal News

Dakhal News 25 September 2017


अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम

  अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम की हर हरकत पर मुंबई पुलिस की नजर रहती है, लेकिन हाल ही में हत्थे चढ़े उसके भाई इकबाल कास्कर ने जो खुलासा किया है, वो पुलिस के लिए चौंकाने वाला है। पूछताछ में इकबाल कास्कर ने बताया है कि दाऊद की बीवी मेहजबीन शेख पिछले साल मुंबई आई थी। वह अपने पिता से मिलने भारत आई थी। मालूम हो, इकबाल कास्कर अपने भाई दाऊद के राज खोलता जा रहा है। इससे पहले उसने बताया था कि दाऊद पाकिस्तान में ही है। इकबाल को ठाणे पुलिस की एंटी-एक्सटॉर्शन सेल ने इसी हफ्ते गिरफ्तार किया है। उसने अपने ताजा खुलासे में बताया है कि दाऊद की बीवी को लोग जुबीना जरिन के नाम से भी जानते हैं। वह 2016 में अपने पिता सलीम कश्मीरी से मिलने मुंबई आई थी। सलीम कश्मीर अपने परिवार के साथ मुंबई में ही रहते हैं। इस मुलाकात के बाद दाऊद की बीवी गुपचुप तरीके से भारत से बाहर चली गई। पुलिस अधिकारियों के मुताबिक, इकबाल कास्कर ने दाऊद के चार पते बताए हैं। ये सभी पते कराची के हैं। दाऊद, अपने भाई अनीस इब्राहिम और सहयोगी छोटा शकील के साथ पाकिस्तान के इस शहर की पॉश कॉलोनी में रहता है। अनीस मुंबई में अपने परिवार को ईद या अन्य मौकों पर फोन करता रहता है। दाऊद ऐसा नहीं करता है, क्योंकि उसे डर है कि कहीं उसके कॉल भारतीय खुफिया एजेंसियों द्वारा ट्रेस न कर लिए जाएं। अधिकारियों के अनुसार, इकबाल कास्कर से दाऊद के स्वास्थ्य को लेकर कई सवाल पूछे गए हैं। उसने बताया है कि दाऊद सेहतमंद है और जैसा कि भारतीय मीडिया में खबरें दी गई हैं कि उसके कई अंग खराब हो चुके हैं, ऐसा नहीं है।  

Dakhal News

Dakhal News 23 September 2017


हिजबुल आतंकी आदिल

 सुरक्षाबलों ने कश्मीर घाटी में अपने आतंकरोधी अभियान को जारी रखते हुए बुधवार के बीजबेहाड़ा रेलवे स्टेशन से हिजबुल मुजाहिदीन के आतंकी आदिल को पकड़ने के अलावा खाग-बडगाम में सर्च ऑपरेशन भी चलाया। इसी दौरान, सुरक्षाबलों ने ओमपोरा, बडगाम में एक जिंदा बम को निष्क्रिय कर एक बड़े हादसे को टाल दिया। मिली जानकारी के अनुसार, तीन लाख का इनामी हिज्बुल आतंकी आदिल अहमद बट बुधवार की सुबह अनंतनाग में अपने एक साथी से मिलने के बाद अपने एक ठिकाने की तरफ जा रहा था। वह बीजबेहाड़ा रेलवे स्टेशन पर आया था और उसी समय सुरक्षाबलों को उसकी भनक लग गई। सुरक्षाबलों ने सुनियोजित तरीके से रेलवे स्टेशन की घेराबंदी करते हुए विभिन्न जगहों पर विशेष दस्ते तैनात कर दिए और जैसे ही आदिल बट की निशानदेही हुई, सुरक्षाबलों ने उसे भागने का मौका दिए बगैर पकड़ लिया। जिला अनंतनाग में जबलीपोरा बीजबेहाड़ा के रहने वाले सी-श्रेणी के आतंकी आदिल की पुलिस को विभिन्न सुरक्षा चौकियों पर हमले और पंचायत प्रतिनिधियों व पुलिसकर्मियों के परिजनों के साथ मारपीट की विभिन्न वारदातों में तलाश थी। फिलहाल, उससे पूछताछ जारी है। इस बीच, जिला बडगाम के ओमपोरा में बुधवार की सुबह उस समय सनसनी फैल गई, जब लोगों ने जम्मू-कश्मीर बैंक के पास एक ग्रेनेड को देखा। सूचना मिलते ही पुलिस बम निरोधक दस्ते संग मौके पर पहुंची और उसने सड़क को आम आवाजाही के लिए बंद करते हुए लोगों को वहां से हटाया। इसके बाद बम निरोधक दस्ते ने ग्रेनेड को अपने कब्जे में लेकर निष्क्रिय बना दिया। संबंधित अधिकारियों की मानें तो यह ग्रेनेड काफी पुराना था और वहां जमीन में दबा था जो आज किसी तरह बाहर निकल आया था। जिला बडगाम से मिली एक अन्य सूचना के मुताबिक पुलिस और सेना के संयुक्त टीम ने खाग में आतंकियों के छिपे होने की सूचना पर घेराबंदी कर करीब तीन घंटे तक तलाशी ली, लेकिन आतंकियों का उन्हें कोई सुराग नहीं मिला।

Dakhal News

Dakhal News 20 September 2017


पनामा पेपर स्कैंडल

  पनामा पेपर स्कैंडल मामले में पाकिस्तानी सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद प्रधानमंत्री पद से हटाए गए नवाज शरीफ की पत्नी बेगम कुलसुम लाहौर सीट का उपचुनाव जीत गई हैं। यह चुनाव शरीफ परिवार के लिए आम समर्थन की एक परीक्षा माना जा रहा था। शरीफ को अयोग्य ठहराए जाने के कारण यह उपचुनाव हुआ। बेगम कुलसुम ने एनए-120 सीट पर निकटतम प्रतिद्वंद्वी पूर्व क्रिकेटर के नेतृत्व वाली पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ पार्टी की यास्मिन राशिद को 13 हजार से ज्यादा वोटों से हराया। चुनाव आयोग के प्रवक्ता ने बताया कि कुलसुम को 59,413 वोट मिले जबकि उनकी प्रतिद्वंद्वी राशिद को 46,145 वोट मिले। मालूम हो, बीते दिनों पता चला है कि कुलसुम को गले का कैंसर है। उनका विदेश में इलाज चल रहा है। इस दौरान चुनाव प्रचार की कमान पूरी तरह से बेटी मरियम शरीफ ने संभाली। बीते दिनों खबर आई थी कि शरीफ की बेटी मरियम शरीफ ने नेशनल असेंबली की लाहौर सीट पर होने वाले उपचुनाव के कारण अपनी ब्रिटेन यात्रा टाल दी है। वह मां को देखने के लिए लंदन जाने वाली थीं। पूरा मामले में नवाज शरीफ और उनके परिवार की मुश्किल कम नहीं हुई हैं। सुप्रीम कोर्ट की पांच सदस्यीय पीठ ने शरीफ को संसद की सदस्यता के अयोग्य ठहरा दिया था जिसके चलते उन्हें प्रधानमंत्री की कुर्सी छोड़नी पड़ी थी। 28 जुलाई के इस आदेश के विरोध में शरीफ, उनके बेटे-हसन व हमजा, बेटी मरियम और दामाद मुहम्मद सफदर ने सुप्रीम कोर्ट में पुनर्विचार याचिका दायर की थी, जिसे खारिज कर दिया गया है।  

Dakhal News

Dakhal News 18 September 2017


गुरुग्राम  रेयान स्कूल

गुरुग्राम में  रेयान स्कूल में हुई 7 साल के प्रद्युम्न की हत्या के 10 दिन बाद स्कूल सोमवार को फिर खुला। अगले तीन महीने तक स्कूल का मैनेजमेंट प्रशासन के हाथ में रहेगा। स्कूल खुलने को लेकर प्रद्युम्न के पिता ने विरोध जताते हुए कहा कि इससे हत्या के सूबत नष्ट होने का खतरा रहेगा। वहीं स्कूल खुलते ही बच्चे वक्त पर पहुंचे लेकिन उनमें और उनके माता-पिता में अजीब सा डर समा गया है। बच्चों की पढ़ाई का नुकसान ना हो इसके चलते माता-पिता अपने बच्चों को स्कूल लेकर पहुंचे लेकिन उनके चेहरों पर डर साफ नजर आ रहा था। एक बच्चे के पिता ने कहा कि हमारे बच्चे जब तक स्कूल से घर नहीं आ जाएंगे हमें डर रहेगा। वहीं एक अन्य ने कहा कि स्कूल के स्टाफ का बैकग्राउंड चैक होना चाहिए साथ ही स्कूल में पढ़े-लिखे लोगों को नौकरी दी जानी चाहिए।

Dakhal News

Dakhal News 18 September 2017


राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप

  अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने अपनी हार का दोष दूसरों पर मढ़ने के लिए हिलेरी क्लिंटन की आलोचना की है। ट्रंप ने कहा, 'धूर्त हिलेरी अपने अतिरिक्त हर किसी को अपनी हार का दोषी बताती हैं। वह बहस हार गईं और साथ ही चुनाव जीतने की अपनी दिशा भी। उन्होंने चुनाव के लिए भारी मात्रा में धन खर्च किया था लेकिन अंत में उनके हाथ कुछ नहीं लगा।' मालूम हो कि हिलेरी ने अपनी नई किताब 'व्हाट हैप्पेंड' में राष्ट्रपति चुनावों में ट्रंप से मिली अप्रत्याशित हार के कारणों का जिक्र किया है। मंगलवार को आई इस आत्मकथा पर शुरुआत में ट्रंप ने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी थी। सिर्फ ह्वाइट हाउस की प्रेस सचिव सारा सैंडर्स ने हिलेरी की किताब को 'सैड' करार दिया था। सैंडर्स ने कहा, 'हिलेरी क्लिंटन ने चुनाव जीतने के लिए दुनिया का सबसे नकारात्मक प्रचार अभियान चलाया था लेकिन वह हार गईं। अब अपने सार्वजनिक जीवन के अंतिम चरण में किताब की बिक्री बढ़ाने के लिए झूठे हमलों का प्रयोग कर रहीं हैं।

Dakhal News

Dakhal News 14 September 2017


इराक  इस्लामिक स्टेट

इराक से इस्लामिक स्टेट का पूरी तरफ सफाया करने के लिए सेना ने पूरी ताकत झोंक दी है। आंतकियों की कमर तोड़ने के इरादे से हवाई हमले किए जा रहे हैं। इराकी सेना ने ऐसे ही एक हमले में ये दावा किया कि एक हवाई हमले में आईएस के 15 आंतकी ढेर हो गए।ईराकी सेना ने शुक्रवार को दीयाला की प्रांतीय राजधानी बकूबा से 60 किमी पूर्व आईएस इलाकों पर हवाई हमले किए। शिन्हुआ न्युज एजेंसी की एक रिपोर्ट के अनुसार, अजावी के नेतृत्व वाले हवाई हमले में आईएस का एक वाहन, पांच मोटरसाइकिलें, आईएस आतंकियों के पांच ठिकानों और दो नौकाओं को निशाना बनाया गया। अज़ावी ने यह भी कहा कि उनके नेतृत्व में सैनिकों ने बगदाद के लगभग 65 किमी उत्तर-पूर्व में बकूबा में गैटून क्षेत्र में एक अपार्टमेंट में भी छापा मारा, जहां से दो विस्फोटक और गोला-बारूद जब्त किए गए। उन्होंने बताया कि आईएस आतंकी अभी भी दीयाला के हिमरीन पहाड़ी इलाके में सक्रिय हैं। इससे पहले 31 अगस्त को इराकी प्रधान मंत्री हैदर अल-अबादी ने ताल्ल अफ़ार और आस-पास के इलाकों के शहर को पूर्ण आतंकमुक्त घोषित कर दिया था। इराकी सेना अब आईएस आतंकियों के नए इलाकों हविजाह और किर्कुक के तेल-समृद्ध पश्चिम के आसपास क्षेत्रों पर हमले की तैयारी कर रहा है।

Dakhal News

Dakhal News 10 September 2017


भूकंप मैक्सिको

  मैक्सिको में पिछले सौ साल का सबसे भीषण भूकंप आया है। रिक्टर पैमाने पर इसकी तीव्रता 8.2 मापी गई है। भूकंप के झटकों से सबसे ज्यादा दक्षिणी प्रांत ओक्साका प्रभावित हुआ है। जान गंवाने वाले 32 लोगों में से 20 इसी राज्य में मारे गए। इमारतों को व्यापक पैमाने पर नुकसान पहुंचने की बात कही जा रही है। भूकंप की तीव्रता को देखते हुए तटवर्ती इलाकों के लिए सुनामी की चेतावनी भी जारी की गई थी। भूकंप का झटका सबसे पहले स्थानीय समय के अनुसार गुरुवार रात 11:49 बजे तटवर्ती शहर टोनाला (दक्षिणी प्रांत चियापस) से तकरीबन सौ किलोमीटर दूर महसूस किया गया था। इससे पहले वर्ष 1985 में मेक्सिको में इतनी ही तीव्रता का भूकंप आया था, जिसमें दस हजार से ज्यादा लोग मारे गए थे। मैक्सिको के राष्ट्रपति एनरिक पेना नीटो ने कहा, "तीव्रता के लिहाज से यह पिछले सौ साल का सबसे भीषण भूकंप है। देश की 12 करोड़ की आबादी में से पांच करोड़ लोगों ने भूकंप के झटकों को महसूस किया।" नीटो ने राष्ट्रीय आपदा रोकथाम केंद्र पहुंच कर स्थिति का जायजा लिया। वह खुद राहत एवं बचाव कार्य की निगरानी कर रहे हैं। भूकंप के झटके केंद्र से तकरीबन 800 किलोमीटर दूर मैक्सिको सिटी तक महसूस किए गए। ग्वाटेमाला में भी धरती डोली है। सायरन सुनकर मची अफरातफरी आधी रात को भूकंप की चेतावनी वाला सायरन सुनकर अफरातफरी मच गई। बदहवास लोग जिस हालत में थे, उसी स्थिति में घर से बाहर भागे। प्राकृतिक आपदा से ओक्साका प्रांत में सबसे ज्यादा तबाही हुई है। अकेले जुचितान शहर में 17 की जान चली गई। इमर्जेंसी रिस्पांस एजेंसी के निदेशक लुइस फिलिप प्यूंटे ने कई मकान के ध्वस्त होने की जानकारी दी है। तबास्को प्रांत के एक अस्पताल में बिजली जाने से एक बच्चे की मौत हो गई। अधिकारियों ने मरने वालों की तादाद बढ़ने की आशंका जताई है। देश के 11 राज्यों में स्कूलों को बंद रखने का निर्देश दिया गया है।

Dakhal News

Dakhal News 8 September 2017


putin

  अमेरिका और नॉर्थ कोरिया के बीच जारी तनाव में रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन भी कूद गए हैं। उन्होंने अपने एक लेख में इन दोनों देशों के विवाद के किसी बड़े युद्ध में बदलने की चेतावनी दी है। उन्होंने आगाह किया है कि नॉर्थ कोरिया पर दबाव बढ़ाने के परिणाम घातक हो सकते हैं। उन्होंने कहा है कि कोरियाई प्रायद्वीप के हालात बिगड़ रहे हैं। इसलिए दोनों पक्ष सीधे वार्ता के जरिए मतभेद और समस्याएं सुलझाएं। पुतिन ने चीन में होने वाले ब्रिक्स सम्मेलन से पहले लिखे लेख में यह चेतावनी दी है। यह लेख क्रेमलिन की वेबसाइट पर डाला गया है, जबकि फ्रांस ने उत्तर कोरिया के लंबी दूरी की बैलेस्टिक बनाने को लेकर आगाह किया है। इस बीच, स्पेन की सरकार ने मिसाइल परीक्षण को लेकर उत्तर कोरिया के राजदूत किम होक चोल को निष्कासित कर दिया। उधर, फ्रांस के विदेश मंत्री जीन-वेस ली ड्रायन ने कहा कि उत्तर कोरिया जिस तरह से उद्देश्य बनाकर गंभीर प्रयास कर रहा है, उससे वह कुछ ही महीनों में लंबी दूरी की बैलेस्टिक मिसाइल बनाने में सक्षम हो जाएगा। यह जानकारी उन्हें अपने खुफिया तंत्र से मिली है। ड्रायन ने कहा, 'उत्तर कोरिया खुद को दुनिया में कहीं भी परमाणु हमला करने में सक्षम बनाना चाहता है, जो बहुत खतरनाक उद्देश्य है। आज वह अमेरिका और कुछ हद तक यूरोप पर हमला करना चाहता है। लेकिन किसी दिन उसके निशाने पर जापान और चीन भी होंगे। यह स्थिति विस्फोटक होगी। फ्रांस ने चीन से अनुरोध किया है कि वह अपने प्रभाव का इस्तेमाल करके मित्र राष्ट्र को हथियारों के विकास से रोके। ली ड्रायन ने यह बात पेरिस में चीनी विदेश मंत्री वांग ई के साथ वार्ता में कही। लंबी दूरी की बैलेस्टिक मिसाइल 10 हजार किमी की दूरी तक निशाना लगाने में सक्षम होती है। इस बीच, अमेरिकी रक्षा मंत्री जिम मैटिस ने उत्तर कोरिया मसले पर राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप से किसी तरह के मतभेद से इनकार किया है। उत्‍तर कोरिया यात्रा पर प्रतिबंध प्रभावी ट्रंप प्रशासन द्वारा अमेरिकी नागरिकों की उत्तर कोरिया यात्रा पर लगाया गया प्रतिबंध शुक्रवार से प्रभावी हो गया। यह प्रतिबंध जून में हुई अमेरिकी छात्र ओट्टो वार्मबियर की मौत के बाद लगाया गया था। उत्तर कोरिया में वार्मबियर को राष्ट्र विरोधी पोस्टर बनाने के आरोप में गिरफ्तार करके 15 साल के कठोर कारावास की सजा दी गई थी। कारावास में ही उसके साथ जो क्रूरता हुई उससे वह कौमा में चला गया। उसी अवस्था में उसे इलाज के लिए रिहा किया गया। बाद में अमेरिका में वार्मबियर की मौत हो गई थी।  

Dakhal News

Dakhal News 3 September 2017


आतंकी राजनीतिक पार्टियां

  मौजूदा दौर में पाकिस्तान आतंक का सबसे अड्डा है। खुद अमेरिका राष्ट्रपति ट्रंप भी खुले तौर पर इसे बोल चुके हैं। ऐसे में आतंकी संगठनों के खिलाफ कार्रवाई को लेकर अंतरराष्‍ट्रीय समुदाय की ओर से दबाव बढ़ता जा रहा है। वहीं अब ये खबर आ रही है कि पाकिस्‍तान स्थित आतंकी संगठनों ने अपने बचाव के लिए एक नया रास्‍ता तलाश्‍ा लिया है। खबरों की मानें तो अब ये संगठन सुरक्षा कवच के तौर पर अपनी राजनीतिक पार्टियां बना रहे हैं। तभी तो जमात-उद-दावा प्रमुख हाफिज सईद द्वारा अपनी राजनीतिक पार्टी बनाने के कुछ हफ्तों बाद ही अंतरराष्ट्रीय आतंकवादी घोषित किए जा चुके फजलुर रहमान खलिल ने अपनी पार्टी बनाने की घोषणा कर दी है। वहीं इस नए चलन की वजह से भारतीय खुफिया एजेंसियां सतर्क हो गई हैं। रक्षा सूत्रों के मुताबिक, कुछ दिन पहले ही खलिल ने पाकिस्तानी मीडिया को यह जानकारी दी है कि वह अपनी पार्टी बना रहा है, जिसका नाम इसलाह-ए-वतन होगा। पाकिस्तान में राजनीतिक पार्टी बनाने का यह चलन अमेरिका द्वारा जमात-उद-दावा और अन्य आतंकी संगठनों पर लगाए जा रहे प्रतिबंधों के बाद आया है। खुफिया अधिकारियों के मुताबिक, राजनीतिक पार्टी बनाने से इन आतंकवादियों को एक कवच मिल जाता है और इनका संगठन भी मुख्यधारा में बना रहता है। एक अधिकारी ने बताया कि ऐसा करने से न सिर्फ आतंकवादी संगठनों को पश्चिमी देशों के पाकिस्तान पर बढ़ते दबाव से छुटकारा पाने में मदद मिलेगी। वहीं इसकी आड़ में वो अपने आतंकी मकसदों को कानूनी तौर पर अंजाम दे पाएंगे। एक बार राजनीतिक पार्टी आती है तो सभी प्रतिबंधित सदस्य कानूनी रूप से वैध पार्टी के सदस्य बन जाते हैं।

Dakhal News

Dakhal News 1 September 2017


शिवराज सिंह चौहान

एमपी के मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि नर्मदा सेवा यात्रा के दौरान चिन्हित कार्यों की जमीनी हकीकत स्वयं देखेंगे। प्रगति का रिपोर्ट कार्ड जनता के समक्ष रखेंगे। श्री चौहान आज मंत्रालय में नर्मदा सेवा मिशन की समीक्षा कर रहे थे। बैठक में म.प्र. जन अभियान परिषद के उपाध्यक्ष सर्वश्री प्रदीप पाण्डे, राघवेन्द्र गौतम, मिशन से संबंधित विभागों के अपर मुख्य सचिव, प्रमुख सचिव, सचिव एवं अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे। अधिकारियों ने मिशन अंतर्गत किये गये विभागीय कार्यों का विवरण प्रस्तुत किया। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि मिशन अंतर्गत कार्यों की प्रति माह मानीटरिंग की जाएगी। नर्मदा सेवा यात्रा के एक वर्ष पूर्ण होने के अवसर पर नर्मदा तटीय क्षेत्रों का भ्रमण करेंगे। कार्यों की प्रगति की समीक्षा करेंगे। आमजन को सम्मेलनों का आयोजन कर अब तक पूर्ण और निर्माणाधीन कार्यों की जानकारी देंगे। उन्होंने अधिकारियों को निर्देशित किया कि कार्य निर्धारित समय-सीमा में पूर्ण हों। कार्यों की नियमित मानीटरिंग की जाये। कार्यों का भौतिक सत्यापन प्रभावी हो। पूर्ण एवं प्रगतिरत निर्माण कार्यों की फोटो प्राप्त कर कार्य का आकलन किया जाये। यह शत-प्रतिशत सुनिश्चित हो कि नर्मदा में गंदा पानी नहीं मिलने पाये। उन्होंने पौधों की जीवितता की निरंतर निगरानी करने के लिए कहा। बैठक में श्री चौहान ने विभागवार और 16 जिलों के लक्ष्यों और प्रगति की जानकारी प्राप्त की। जनअभियान परिषद को निर्देशित किया कि नर्मदा सेवा मिशन सेवा समितियों का सम्मेलन आयोजित करें। कृषि विभाग को मिशन अंतर्गत रोडमैप के आधार पर प्रति माह प्रगति विवरण देने के निर्देश दिए। बैठक में नगरीय विकास एवं आवास विभाग द्वारा बताया गया कि तटीय क्षेत्र में कचरा एकत्रण की 123 पेटियाँ स्थापित हो गई हैं। घाटों पर 119 चेंजिंग रूम बन गये हैं। प्रतिमा और ताजिये विसर्जन के लिये पृथक से 28 कुंडों का निर्माण कराया गया है। तटीय स्थल पर 19 मुक्तिधाम स्थापित किये गये हैं। मिशन अंतर्गत 44 नगरीय निकायों को इन्टीग्रेटेड सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट के 9 क्लस्टर बनाकर कार्रवाई की जा रही है। प्रत्येक नगरीय निकाय को दो मोबाइल टायलेट भी उपलब्ध करवाए हैं। सार्वजनिक शौचालय सवा चार करोड़ रूपये अधिक व्यय कर बनवाये जा रहे हैं। कुल 20 नगरों के लिए 21 सीवेज परियोजनाएँ बनी हैं। कृषि विभाग द्वारा बताया गया कि कृषि कचरे को खाद में बदलने के 4640 नाडेप, वर्मीकम्पोट की 19 हजार 400 इकाईयाँ स्थापित की गई हैं। बायोगैस की 351 यूनिट भी लगाई जा रही हैं। नर्मदा तटीय इलाके में 21 हजार से अधिक खेतों में मेड़ बंधान कार्य पूर्ण हो गया है। अभी 2634 कार्य प्रगतिरत है। भूमि की जाँच के लिए 15 लाख 12 हजार से ज्यादा मृदा स्वास्थ्य कार्ड वितरित किये गये हैं। जैविक गाँव प्रमाणीकरण कार्य चरणबद्ध ढंग से लक्ष्य अनुसार हो रहा है। वन विभाग ने बताया कि गर्मी में सूखे पत्तों से होने वाली आगजनी को रोकने की कार्य-योजना तैयार हो गई है। पौधों के संरक्षण के लिए एक किलोमीटर वर्ग क्षेत्र में जल संग्रहण के लिये एक-एक जल संरचना का निर्माण करवाया जा रहा है। पौधों के टिश्यू कल्चर के लिये इंदौर की प्रयोगशाला को विस्तारित करवाया जा रहा है। पर्यावरण विभाग ने बताया कि नर्मदा जल की गुणवत्ता का प्रति माह आकलन पब्लिक डॉमिन में प्रदर्शित किया गया है। नदी जल ग्रहण क्षेत्र में स्थापित सभी 11 प्रमुख प्रदूषणकारी उद्योगों में उपचार व्यवस्था की गई है। राज्य स्तर से कैमरों के साथ जीरो डिस्चार्ज की मानीटरिंग भी हो रही है। उद्यानिकी विभाग द्वारा तटीय क्षेत्र में एक किलोमीटर पट्टी तक फल पौधरोपण के लिये 26 हजार 139 कृषकों को जोड़ा गया है और 13 हजार 906 हेक्टर क्षेत्र में 41 लाख 72 हजार फलदार पौधे रोपित हो चुके हैं। विभाग द्वारा कोल्डरूम, शीत भंडारण, प्याज भंडारण की क्षमता वृद्धि, सोलर ड्रायर और प्रसंस्करण उद्योगों को वित्तीय सहायता की पहल की है। ऊर्जा विकास निगम द्वारा तटीय जिलों में सोलर पंप 2 हजार 525, एल.ई.डी. बल्ब 37 लाख 40 हजार, ट्यूब लाइट 1 लाख 3 हजार, फैन 13 हजार 409 वितरण और रूफटॉप सोलर पावर प्लांट की 2 हजार 431 इकाईयों की स्थापना के कार्य किए गए हैं। विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग द्वारा नर्मदा तट निवासियों को वैज्ञानिक तरीके से कचरा निष्पादन, सोलर डायर बनाने का प्रशिक्षण दिया है। दीर्घकाल में नदी स्वास्थ्य सुनिश्चित करने के लिए नदी स्वास्थ्य संकेतक तैयार करने और अनुसंधान के कार्य करवाए जा रहे हैं। नदी विज्ञान की नवीन विधा विकास और अनुसंधान के लिए नव-साहित्य सृजन का कार्य कराया जा रहा है। उद्योग विभाग द्वारा जबलपुर के उमरिया डूगंरिया और होशंगाबाद के मोहासा बाबई औद्योगिक क्षेत्र में सीवेज ट्रीटमेंट प्लाट का निर्माण करवाया जा रहा है जो क्रमश: वर्ष 2018 के अंत और वर्ष 2019 के पूर्वाध में पूर्ण होंगे। जल संसाधन विभाग ने बताया कि नर्मदा पर स्थित बड़े बाँधों के कारण नदी प्रवाह नहीं रूके, इसकी 50 परियोजनाओं पर कार्य चल रहा है। अभी तक 3 परियोजनाएँ पूर्ण हो गई हैं। कुल 28 परियोजनाओं का निर्माण पूर्णता की ओर है। शेष परियोजनाओं में विभिन्न चरणों में कार्य प्रगतिरत है। ग्रामोद्योग विभाग ने बताया कि ग्रामोद्योग की 150 इकाईयाँ स्थापित करवाने का कार्य किया जा रहा है। माटी शिल्पियों के प्रशिक्षण और रेशम कृषकों की सहायता गतिविधियाँ भी प्रगतिरत है। ग्रामीण विकास विभाग ने बताया कि नर्मदा किनारे के ग्रामों को खुले में शौच से मुक्त कराने के कार्य 528 ग्रामों में पूर्ण हो गये है। अभी 205 में कार्य जारी है। बॉयोडिग्रेडबल और नॉनबायोडिग्रेडबल कचरा प्रबंधन का प्रशिक्षण ग्राम पंचायतों को दिया गया है। तीन करोड़ पौधों का रोपण हुआ है। वृक्षों के रखरखाव के लिए 55 हजार व्यक्ति नियुक्त हुये हैं। पौधों का विगत दिनों सत्यापन भी करवाया गया है। स्कूल शिक्षा विभाग ने बताया कि बच्चों और उनके पालकों को नदी संरक्षण के लिए प्रेरित करने आगामी 23 सितम्बर को विद्यालयों में नदी दिवस मनाया जायेगा। इस बारे में पालकों, विद्यार्थियों को संकल्पित करवाने के लिए मिसकॉल रेस्पांस व्यवस्था की पहल की जानकारी दी। पर्यटन निगम द्वारा क्षेत्रांतर्गत 8 होटलों में से 4 में वैज्ञानिक तरीके से कचरा निष्पादन, गाँवों और घाटों को पर्यटन स्थल के रूप में विकसित करने के कार्यों की जानकारी दी गई। पर्यटन हेतु सौर ऊर्जा चलित 174 नावें उपलब्ध करवाई जा रही हैं। सामाजिक न्याय विभाग द्वारा नशामुक्त समाज निर्माण के लिए जन-जागरण के कार्यों की जानकारी दी गई। राजस्व विभाग ने नदी की सीमाओं का अंकन करवाने, पशुपालन विभाग ने ड्राय डेयरी इकाईयों, चारा उपलब्ध करवाने की व्यवस्थाएं करने, संस्कृति विभाग ने संस्कृति के पुरातात्विक पहलुओं के अन्वेषण, प्रागैतिहासिक गुफाओं के उन्नयन, संत और समाज में समन्वय तथा मेलों में सहायता के किए जा रहे और मत्स्य विभाग ने नदी के गहरे ढहो में मत्स्य बीज संचयन करवाने के कार्यों का ब्यौरा दिया।  

Dakhal News

Dakhal News 24 August 2017


डोकलाम

डोकलाम मामले में जापान द्वारा भारत का समर्थन करना चीन को नागवार गुजरा है। बौखलाए चीन ने जापान से कहा है कि वो इस मुद्दे पर बिना सोचे कोई बयान ना दे। चीन ने जापान से कहा कि अगर वह भारत का साथ देना भी चाहता है तो भी चीन के खिलाफ बयान देने से बचे। जापान ने इस मुद्दे पर भारत का साथ देने की बात कही थी। जापान के राजदूत केनजी हिरामात्सु ने भारतीय राजनयिकों को अपने देश का आधिकारिक रुख स्पष्ट कर दिया है। उसने कहा था कि चीन के साथ डोकलाम विवाद पर भारत के कूटनीतिक प्रयासों का रंग दिखना शुरू हो गया है। इस मसले पर चीन अंतरराष्ट्रीय बिरादरी में घिरता दिख रहा है। अमेरिका के बाद जापान ने भी डोकलाम विवाद पर भारत का समर्थन किया है। जापान ने कहा है कि दोनों देशों के बीच विवाद का हल बातचीत के जरिए होना चाहिए। चीन के विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता हू चुनयांग प्रेस कॉन्फ्रेंस करके कहा कि उन्होंने देखा कि भारत में जापान के अंबेसडर भारत को सपोर्ट करना चाहते हैं। इसलिए चीन उनसे कहना चाहेगा कि वह ऐसे बिना सोचे समझे बयान न दे और कुछ भी बोलने से पहले फेक्ट चेक कर लें। उन्होंने आगे गुस्से में कहा कि डोकलाम में कोई भी बॉर्डर विवाद नहीं है और दोनों देशों को निर्धारित सीमा के बारे में पता है। ऐसे में भारत की और से स्टेटस क्यू में बदलाव की पहल हुई है न कि चीन की ओर से। जापान इस मामले को बेहद करीब से देख रहा है, उसका मानना है कि दोनों देशों के बीच जारी गतिरोध पूरे क्षेत्र की स्थिरता को प्रभावित कर सकता है। हाल ही में चीन के साथ जापान का भी इसी तरह का क्षेत्रीय विवाद चल रहा है। टोक्यो का यह मानना है कि विवादित क्षेत्रों में शामिल सभी दलों को बल द्वारा यथास्थिति को बदलने के एकतरफा प्रयासों का सहारा नहीं लेना चाहिए। जापान के इसी रुख के कारण वह चीन की "यथास्थिति को बदलने" की कोशिश की गंभीरता से आलोचना कर रहा है। हीरामात्सू ने कहा कि भारत ने 30 जून को यथास्थिति बदलने के लिए बीजिंग को दोषी ठहराया था। उन्होंने कहा कि हम समझते हैं कि डोकलाम क्षेत्र में गतिरोध लगभग दो महीने से चल रहा है। विवादित क्षेत्रों में महत्वपूर्ण है कि सभी दलों में बल द्वारा यथास्थिति को बदलने के एकतरफा प्रयासों का सहारा नहीं लेना चाहिए और शांतिपूर्ण ढंग से विवाद को हल करना चाहिए। हू यही नहीं रुकीं और भारत को भी धमकी दी कि भारत डोकलाम से जल्द सेना की टुकड़ी को वापस बुलाए। उन्होंने कहा कि बिना शर्त वापसी ही आगे किसी भी अर्थपूर्ण बातचीत के लिए दरवाजा खुलेगा। जापान दुनिया का पहला देश है जिसने डोकलाम विवाद पर भारत का खुलकर समर्थन किया है। इससे पहले अमेरिका ने इस मुद्दे को दोनों देशों को सीधी बातचीत के जरिए सुलझाने को कहा था।  

Dakhal News

Dakhal News 19 August 2017


pakistani hindu

  पाकिस्तान में हिंदुओं पर होने वाले अत्याचारों को अब दुनिया मानने लगी है। अमेरिका ने एक ताजा रिपोर्ट में कहा है कि पाकिस्तान में हिंदुओं की धार्मिक आजादी खतरे मे है। अमेरिकी विदेश मंत्री रेक्स टिलरसन द्वारा जारी बयान में दावा किया गया है कि पाक अल्पसंख्यकों के अधिकारों और उनकी धार्मिक आजादी को संरक्षण नहीं दिया जा रहा। फिर चाहे वो हिंदू हों, ईसाई या फिर सिख, जबरन धर्म परिवर्तन के डर में रहते हैं। अंतरराष्ट्रीय धर्मिक स्वतंत्रता रिपोर्ट 2016 जारी करते हुए टिलरसन बोले की पाकिस्तानी अल्पसंख्यकों के अनुसार वहां कि सरकार द्वारा जबरन धर्म परिवर्तन रोकने के लिए उठाए जाने वाले कदम काफी नहीं हैं। पाकिस्तान में 12 से ज्यादा लोग ईशनिंदा कानून के चलते या तो उम्रकैद काट रहे हैं या फिर फांसी का इंतजार कर रहे हैं। बता दें कि पाकिस्तान में अक्सर जबरन धर्म परिवर्तन करवाने के मामले सामने आते हैं। कई मामलों में हिंदू लड़कियों का जबरन धर्म परिवर्तन करवाकर शादियां करवाईं जाती हैं

Dakhal News

Dakhal News 16 August 2017


मोदी और ट्रम्प हिंद-प्रशांत क्षेत्र

  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप हिंद प्रशांत क्षेत्र में शांति और स्थिरता कायम करने पर सहमत हैं। दो दिवसीय मंत्रीस्तरीय बात से यह कदम उठाया जा सकता है। बैठक में दोनों देश अपने रणनीतिक संपर्क को बढ़ाएंगे। मंगलवार को यह जानकारी व्हाइट हाउस ने दी। ट्रंप ने सोमवार रात प्रधानमंत्री को फोन पर स्वतंत्रता दिवस की बधाई दी। फोन पर हुई बातचीत के दौरान ट्रंप ने भारत पहुंचे अमेरिकन क्रूड आयल की पहली खेप का स्वागत किया। इसी महीने टेक्सास से भारत के लिए खेप भेजा जाना शुरू किया गया है। उन्होंने कहा कि अमेरिका लंबे समय तक भारत को ऊर्जा की आपूर्ति करता रहेगा। व्हाइट हाउस ने दोनों नेताओं के बीच फोन पर हुई बातचीत की जानकारी दी है। व्हाइट हाउस ने कहा है, 'दोनों नेताओं ने नए दो दिवसीय मंत्रीस्तरीय वार्ता के जरिये पूरे हिंद-प्रशांत क्षेत्र में शांति और स्थायित्व स्थापित करने पर प्रतिबद्धता जताई। इस वार्ता से दोनों देश अपना रणनीतिक संपर्क बढ़ाएंगे।' दुनिया के बड़े और तेजी से उभरती अर्थव्यवस्था के दोनों नेता ट्रंप और मोदी भारत में इसी वर्ष नवंबर में होने जा रहे वैश्विक उद्यमिता शिखर सम्मेलन पर नजरें जमाए हैं। ट्रंप ने अपनी बेटी और सलाहकार इवान्का ट्रंप को अमेरिकी शिखर प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व करने को कहा है। प्रधानमंत्री मोदी ने राष्ट्रपति ट्रंप को धन्यवाद दिया। उन्होंने उत्तर कोरिया के खिलाफ दुनिया को एकजुट करने के लिए अमेरिकी राष्ट्रपति की सराहना की।    

Dakhal News

Dakhal News 16 August 2017


चीन  भूकंप

  चीन में मंगलवार को आए विनाशकारी भूकंप में अब तक 13 लोगों के मारे जाने की खबर है वहीं 175 से ज्यादा लोग अब भी इमारतों के मलबे में दबे हैं। आशंका जताई जा रही है कि मरने वालों की संख्या बढ़ सकती है। खबरों के अनुसार चीन के दक्षिण-पश्चिम सिचुआन प्रांत में मंगलवार रात 7.0 तीव्रता का भूकंप महसूस किया गया। भूकंप का सबसे ज्यादा असर पर्यटक स्थल जियुझागु काउंटी में हुआ है। यही वजह है मरने वाले सभी लोग पर्यटक हैं। फिलहाल राहत और बचाव कार्य जारी हैं। चीन के भूकंप नेटवर्क सेंटर के मुताबिक, भूकंप स्थानीय समयानुसार रात्रि 9.19 बजे आया और इसका केंद्र जियुझागु काउंटी से 35 किमी दूर जमीन में 20 किमी नीचे था। भूकंप के बाद रात्रि 11 बजे तक करीब 106 हल्के झटके भी महसूस किए गए। चीनी भूकंप प्रशासन ने आपातकालीन प्रतिक्रिया प्रक्रिया के स्तर-1 को सक्रिय कर दिया गया। चीन में भूकंप आपातकालीन प्रतिक्रिया प्रणाली में चार स्तर हैं और स्तर-1 शीर्ष पर है। इसके बाद 610 फायर अधिकारियों व सैनिकों और आठ स्निफर डॉग्स को भूकंप प्रभावित स्थल के लिए रवाना कर दिया गया। जियुझागु नेशनल पार्क के एक कर्मचारी ने बताया कि मंगलवार को वहां 38,799 पर्यटक आए थे। उसने बताया कि काउंटी की एक घाटी में कई घर ध्वस्त हो गए, जो इमारतें बच गई हैं उनमें से लोगों को निकाला जा रहा है।  

Dakhal News

Dakhal News 9 August 2017


जापान  रक्षा कवच

  जापान ने उत्तर कोरिया से खतरे को 'नये स्तर' पर पहुंचना बताया है। जापानी रक्षा मंत्रालय की रिपोर्ट में कहा गया है कि उत्तर कोरिया इंटर कांटिनेंटल बैलेस्टिक मिसाइल(आईसीबीएम) परीक्षण के साथ परमाणु हथियार बनाने में सक्षम है। जापान की कैबिनेट से स्वीकृत यह रिपोर्ट उत्तर कोरिया की ओर से आईसीबीएम परीक्षण के लगभग दो सप्ताह के भीतर आई है। ज्ञात हो कि एक सप्ताह पूर्व ही इत्सुनोरी ओनोडेरा ने दोबारा रक्षा मंत्री की कुर्सी संभाली है। वह 2012-14 में भी रक्षा मंत्री रहे थे। ओनोडेरा ने कहा कि वह जापान के रक्षा संबंधी गाइडलाइन को अपडेट कर रहे हैं ताकि उत्तर कोरिया के खतरे से निपटा जा सके। वह चाहते हैं कि जापान के पास आक्रामक मिसाइल रक्षा कवच हो। रक्षा मंत्री के अनुसार उत्तर कोरिया के मिसाइल परीक्षणों ने संख्या के साथ गुणवत्ता को लेकर तनाव बढ़ा दिया है। हम इसका अध्ययन करना चाहेंगे कि क्या हमारा मिसाइल प्रतिरक्षा सिस्टम पर्याप्त है। हमारे पास फिलहाल एजिस डेस्ट्रॉयर्स और पीएसी-तीन मिसाइल हैं। 532 पन्नों की रिपोर्ट में चीन की हवाई व समुद्री गतिविधियों पर भी चिंता जताई गई है। उत्तर कोरियाई कंपनियों को बंद कराने थाईलैंड पहुंचे टिलरसन: अमेरिका ने उत्तर कोरिया को हर तरफ से घेरना शुरू कर दिया है। इसी क्रम में अमेरिका के विदेश मंत्री रेक्स टिलरसन थाईलैंड पहुंचे हैं। अमेरिका का मानना है कि उत्तर कोरिया में थाईलैंड की कई कंपनियां हैं। ये कंपनियां समय-समय पर नाम बदलते हुए कारोबार कर रही हैं। अमेरिका की ओर से थाईलैंड को इस बात के लिए भी प्रोत्साहित किया जा रहा है कि वह उत्तर कोरिया से आनेवाले विस्थापितों को अपने यहां अधिकाधिक संख्या में शरण दे। उत्तर कोरिया ने अमेरिका के समर्थक देशों को भी दी धमकी: संयुक्त राष्ट्र के प्रतिबंधों से बौखलाए उत्तर कोरिया ने अब अमेरिका के साथ उसके समर्थक देशों को भी धमकी दी है। उत्तर कोरिया में एशिया प्रशांत शांति समिति के प्रवक्ता ने कहा कि वाशिंगटन व उसके सहयोगियों को नहीं भूलना चाहिए कि हम निर्ममता के साथ रणनीतिक कदम उठाने को तैयार हैं। साथ ही सियोल को चिंगारियों के समंदर में बदल देंगे।  

Dakhal News

Dakhal News 9 August 2017


जस्टिस दीपक मिश्र

देश के अगले मुख्य न्यायाधीश होंगे। दीपक मिश्र मौजूदा मुख्य न्यायाधीश जस्टिस जेएस खेहर की जगह लेंगे। जस्टिस खेहर का कार्यकाल 27 अगस्त को खत्म होगा। वे भारत के 45वें मुख्य न्यायाधीश होंगे। भारत के मुख्य न्यायाधीश बनने वाले वे ओडिशा की तीसरे जज होंगे। उनसे पहले ओडिशा से ताल्लुक रखने वाले जस्टिस रंगनाथ मिश्रा और जीबी पटनायक भी इस पद को संभाल चुके हैं। जस्टिस दीपक मिश्रा को याकूब मेमन पर दिए गए फैसले पर काफी सुर्खियां मिली थीं। याकूब मेमन की फांसी पर रोक लगाने वाले याचिका को जस्टिस दीपक मिश्रा ने खारिज कर दिया था। वे पटना और दिल्ली हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस रह चुके हैं।

Dakhal News

Dakhal News 9 August 2017


दर्शन लाल बने पकिस्तान में मंत्री

  पाकिस्तान में नवाज शरीफ के सत्ता से हटने के बाद प्रधानमंत्री बने शाहिद खाकन अब्बासी ने अपने कैबिनेट मंत्रियों का चयन कर लिया है। शुक्रवार को राष्ट्रपति ममनून हुसैन ने 47 सांसदों को कैबिनेट मंत्री की शपथ दिलाई, जिनमें से 19 राज्यमंत्री हैं। शपथ लेने वालों में दर्शन लाल भी शामिल हैं। 20 सालों में यह पहला मौका है जब पाकिस्तान सरकार में कोई हिंदू शामिल हुआ है।  65 वर्षीय दर्शन लाल पेशे से डॉक्टर हैं। वे राजनीति में सक्रिय होने के साथ ही सिंध प्रांत में मीरपुर मथेलो शहर में प्रैक्टिस करते हैं। दर्शन लाल को पाकिस्तान के चारों प्रांतों के बीच समन्वय का प्रभारी बनाया गया है।लाल वर्ष 2013 में PML-N पार्टी के टिकट पर अल्पसंख्यक कोटे से दूसरी बार सांसद चुने गए थे। प्रधानमंत्री अब्बासी ने शरीफ कैबिनेट में रक्षा और ऊर्जा मंत्री रहे ख्वाजा आसिफ को विदेश मंत्री का पद सौंपा गया है। मालूम हो, पाक सरकार में साल 2013 से ही कोई विदेश मंत्री नहीं था, आखिरी विदेश मंत्री हीना रब्बानी खार थीं। पाकिस्तान की सुप्रीम कोर्ट ने पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ को बीते हफ्ते पनामा पेपर्स लीक मामले में भ्रष्टाचार का दोषी मानते हुए पीएम पद से बरखास्त कर दिया था। जिसके बाद शाहिद खाकन अब्बासी को पाकिस्तान का नया प्रधानमंत्री बनाया गया है।  

Dakhal News

Dakhal News 5 August 2017


 बाग प्रिंट

  विश्व में अपनी पहचान बना चुकी मध्यप्रदेश की बाग हस्तशिल्प कला ने एक बार फिर अमेरिका में लोगों का मन मोहा है। यह पहला मौका है कि भारत की ओर से धार जिले के बाग कस्बे की प्रसिद्ध हस्तशिल्प कला का अमेरिका में दूसरी बार प्रदर्शन किया गया है। हाल ही में अमेरिका के सेन्टा फे शहर में हुए अंतर्राष्ट्रीय फोकआर्ट मार्केट में भारत की ओर से राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार प्राप्त मोहम्मद युसूफ खत्री ने परम्परा गत आदिवासी हस्त कला का परचम फहराया। इस प्रदर्शन-सह-बिक्री आयोजन में विश्‍व के 90 देशों ने भाग लिया। फोक आर्ट मार्केट की निदेशक साचिको उमी ने बाग प्रिंट की सराहना करते हुए कहा कि इसकी बढ़ती लोकप्रियता को देखते हुए कलाकारों को आगे मौके दिये जाने चाहिये। मोहम्मद युसूफ खत्री ने अमेरिका की भौगोलिक एवं सांस्कृतिक परिस्थितियों को ध्यान में रखते हुए आधुनिक एवं परम्परागत परिधान डिजाइन किये थे। इनकी प्रदर्शनी में काफी लोकप्रियता रही। तीन दिवसीय प्रदर्शनी में श्री युसूफ के सिल्क स्कार्फ, स्टोल, टेबल रनर, बेम्बू मेट की काफी माँग रही। विभिन्न देशों में श्री युसूफ के बाग प्रिंट को मिली है सराहना मोहम्मद युसूफ खत्री वर्ष 2009 में भी अमेरिका के फोट आर्ट मार्केट में अपनी हस्तकला का यादगार प्रदर्शन कर चुके हैं। उन्होंने बारर्सिलोना स्पेन में वर्ष 1991, हेनोवर जर्मनी के वर्ल्ड एक्सपो 2000, मार्टेनिक फ्रांस 2005, बारर्सिलोना स्पेन में वर्ल्ड एक्सपो 2005, बेहरीन में सुकल हिन्द फेस्टिवल 2006, बेल्जियम के ब्रुसेल्स में फेस्टिवल ऑफ इंडिया 2006, इटली के मिलान में मेकेफेयर 2009, कोलम्बिया के बगोटो शहर में आर्टिजनों हैण्डीक्राफ्ट फेयर 2009, मिनाल इटली फेयर 2010, अर्जेंटीना के ब्यूनिसआयर्स में भारत महोत्सव 2011 सहित देश के कई नगरों में अपनी कला का जीवंत प्रदर्शन कर चुके हैं।  

Dakhal News

Dakhal News 5 August 2017


आतंकी हाफिज सईद

 पाकिस्तान में नजरबंद आतंकवादी हाफिज सईद अब सियासत में उतरने की तैयारी कर रहा है। हाफिज सईद ने नये नाम से पार्टी का पंजीकरण करवाने के लिए चुनाव आयोग में अर्जी दी है। करवाने के बाद चुनाव लड़ने की योजना बना रहा है। हाफिज सईद ने अपने संगठन जमात-उद-दावा की ओर से पाकिस्तान चुनाव आयोग में 'मिल्ली मुस्लिम लीग' के नाम से राजनीति पार्टी को मान्यता देने के लिए अर्जी दी है। पाकिस्तान में बदलते राजनीतिक हालातों के बीच नवाज शरीफ को पनामा केस के कारण अपनी कुर्सी गंवानी पड़ गई है और हाफिज सईद जानता है कि उसके लिए यह राजनीति में कदम में रखने का सबसे बेहतर मौका है। अगर चुनाव आयोग से हरी झंडी मिल जाती है तो फिर ये आतंक का आका पाकिस्तान की राजनीति में अपने पैर जमाने की कोशिश करेगा। आपको बता दें कि हाफिज सईद 26/11 मुंबई आतंकी हमले का मास्टरमाइंड है और पिछले 6 महीने से पाकिस्तान में नजरबंद है। नजरबंदी की कार्रवाई अमेरिका की उस चेतावनी के बाद की गई है, जिसमें अमेरिका ने कहा था कि अगर जमात-उद-दावा के खिलाफ कार्रवाई नहीं की गई तो वह पाकिस्‍तान पर प्रतिबंध लगा सकता है। बता दें, है और भारत इसके खिलाफ लगातार कार्रवाई की मांग कर रहा है।

Dakhal News

Dakhal News 4 August 2017


 सिंधु जल संधि

वाशिंगटन से सिंधु जल संधि के तहत भारत को हायड्रो प्रोजेक्ट बनाने की अनुमति की खबरों को विश्व बैंक ने खंडन किया है। बैंक ने कहा है कि अभी भारत को कोई मंजूरी नहीं मिली है और पाकिस्तान के साथ उसकी बात जारी है। इस मामले में अब तक कोई फैसला नहीं लिया जा सका है। बता दे कि इससे पहले खबरें आईं थीं कि भारत को प्रोजेक्ट के लिए अनुमति मिल गई है। बैंक ने अपने स्टेटमेंट में कहा है कि सप्ताह की शुरुआत में बैठकें सद्भावना और सहयोग की भावना से आयोजित की गईं थीं। दोनों पक्ष सितंबर में फिर बैठक के लिए सहमत हो गए हैं। बता दें कि इसके पहले खबर आई थी कि पाकिस्तानी की आपत्तियों को दरकिनार करते हुए विश्व बैंक ने भारत को किशनगंगा और रतला पनबिजली परियोजनाओं के निर्माण की अनुमति दे दी है। इसके बाद भारत सिंधु जल संधि के तहत भारत को झेलम और चिनाब की सहायक नदियों पर कुछ शर्तो के साथ पनबिजली संयंत्रों के निर्माण कर सकता है।  

Dakhal News

Dakhal News 3 August 2017


वर्कोहॉलिक हैं शाहबाज शरीफ

प्रधानमंत्री के पद से हटते हुए नवाज शरीफ को अपने भाई शाहबाज के अलावा कोई और उत्तराधिकारी नहीं दिखा। मगर, प्रधानमंत्री बनने जा रहे शाहबाज शरीफ अपने भाई की कार्बन कॉपी नहीं है। वह सरकार के शीर्ष पर बैठकर एक नई शैली बना सकते हैं। शाहबाज ने अपनी छवि वर्कोहॉलिक यानी ज्यादा काम करने वाले और समय पर परियोजनाओं को पूरा करने वाले व्यक्ति के रूप में बनाई है। शाहबाज के कई सहयोगियों ने कहा कि वह एक कड़े प्रशासक हैं। उन्होंने प्रमुख बुनियादी ढांचा परियोजनाओं को समय पर पूरा करने के लिए अधिकारियों को फटकार लगाई थी। मई में जब एक चीनी निर्मित कोयला आधारित पावर स्टेशन रिकॉर्ड समय में बना, तो पीएमएल-एन ने इसे अपनी उपलब्धि बताते हुए अखबारों में विज्ञापन दिए थे। एक तरलीकृत प्राकृतिक गैस (एलएनजी) संयंत्र भी रिकॉर्ड समय में बनाया गया था। पंजाब सरकार के एक अधिकारी अतारी अली खान ने लंबे समय तक शाहबाज के साथ काम किया है। उन्होंने कहा कि आप चाहें या नहीं, लेकिन यदि आपको शाहबाज शरीफ के साथ काम करना है, तो हमेशा तैयार रहना होगा। विश्लेषकों का कहना है कि शाहबाज ने सेना के जनरलों के साथ बेहतर संबंध बनाए हैं, जिन्होंने 1999 में नवाज शरीफ के दूसरे कार्यकाल में विद्रोह कर तख्तापलट कर दिया था। न्यूजवीक पाकिस्तान के लेखक और कॉन्ट्रिब्यूटिंग एडिटर खालद अहमद ने कहा कि शाहबाज शरीफ अधिक व्यावहारिक हैं। सत्तारूढ़ पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज (पीएमएल-एन) बिना किसी परेशानी के सत्ता का हस्तांतरण करने जा रही है। इसके तरत नवाज के वफादार शाहिद खाकन अब्बासी को दो महीने के लिए प्रधानमंत्री बनाया जाएगा। दो महीने में होने वाले उप-चुनाव में शाहबाज सांसद बनकर पीएम का पद संभालेंगे। इस तरह के एक सुव्यवस्थित सौहार्द राजनीतिक रूप से उथल-पुथल वाले पाकिस्तान के इतिहास के विपरीत होगा। पाकिस्तान की शक्तिशाली सेना के साथ शाहबाज के रिश्ते अपने भाई की तुलना में अधिक सौहार्दपूर्ण रहे हैं। 65 वर्षीय शाहबाज शरीफ, राजनीति में अपने तीन दशकों के काम के दौरान नवाज की छत्र-छाया में रहे हैं। विशाल पंजाब प्रांत में ढांचागत परियोजनाओं के बुनियादी ढांचे के साथ काम करने वाले एक प्रशासक प्रशासक के रूप में उन्होंने अपनी प्रतिष्ठा बनाई है। शाहबाज के एक करीबी ने बताया कि उनकी सबसे बड़ी कमजोरी नवाज शरीफ हैं।  

Dakhal News

Dakhal News 1 August 2017


व्लादिमीर पुतिन

खबर मॉस्को से । रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप द्वारा लगाई कठोर पाबंदियों का कड़ा जवाब दिया है। रविवार को रूस सरकार ने अपने देश में पदस्थ 755 अमेरिकी राजनयिकों को देश छोड़ने का आदेश दे दिया। इससे पहले रूसी विदेश मंत्रालय ने अमेरिका से कहा था कि वह सितंबर तक अपने दूतावास के स्टाफ की कटौती कर 455 कर ले। इतने ही रूसी राजनयिक अमेरिका में पदस्थ हैं। वह उनके बराबर ही अमेरिकियों को अपने देश में रखना चाहता है। रोसिया-24 टेलीविजन से चर्चा में पुतिन ने कहा, अमेरिकी दूतावास व वाणिज्य दूतावास में अब भी 1 हजार से ज्यादा लोग काम कर रहे हैं। 755 लोगों को रूस में अपना कामकाज समेटना ही होगा। पुतिन ने चैनल को दिए इंटरव्यू में कहा कि रूस और अमेरिका के संबंध जल्द बदलाव की उम्मीद नहीं है। हमने काफी इंतजार किया लेकिन कोई नतीजा नहीं निकला। उन्होंने कहा कि ऐसा लगता है कि अगर संबंधों में बदलाव हुआ तो यह जल्दी नहीं होगा।

Dakhal News

Dakhal News 31 July 2017


ट्रम्प  -नॉर्थ कोरिया

वाशिंगटन। नॉर्थ कोरिया द्वारा एक बार फिर से इंटरकॉन्टिनेटल बलैस्टिक मिसाइल का परीक्षण किया गया है। इसके बाद जहां जापान में हड़कंप मचा हुआ है वहीं अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने भी इसकी निंदा की है। ट्रंप ने एक बयान में इस परीक्षण को लापरवाही भरा और खतरनाक करार दिया है। नॉर्थ कोरिया ने एक बयान में कहा है कि यह मिसाइल पूरे अमेरिका को अपनी जद में लेती है। इसके बाद ट्रंप ने अपने एक बयान में कहा है कि नॉर्थ कोरिया द्वारा फिर से किया गया मिसाइल परीक्षण एक महीने के अंदर दूसरा है। यह नॉर्थ कोरिया का लापरवाही और खतरनाक कदम है। उन्होंने आगे कहा कि यूनाइटेड स्टेट्स इसकी निंदा करता है और नॉर्थ कोरिया के उस दावे को नकारता है जिसमें वो कहते हैं कि इन परीक्षणों और हथियारों से नॉर्थ कोरिया की सुरक्षा होगी। वास्तव में इनका उल्टा असर होगा। कोरिया द्वारा यह परीक्षण उसे दुनिया से और दूर करने के साथ ही उसकी अर्थव्यवस्था गिराएंगे। उन्होंने कहा की अमेरिकी अपने लोगों की रक्षा के लिए हर जरूरी कदम उठाएगा साथ ही उसके सहयोगियों की भी सुरक्षा करेगा।

Dakhal News

Dakhal News 29 July 2017


उत्तर कोरिया-बलैस्टिक मिसाइल

  उत्तर कोरिया ने शुक्रवार देर रात फिर मिसाइल दागी जो जापान के समुद्री क्षेत्र में गिरी। माना जा रहा है कि यह अंतर महाद्वीपीय बैलेस्टिक मिसाइल (आईसीबीएम) थी। जापान के पीएम शिंजो आबे ने इसे देश की सुरक्षा को खतरा मानते हुए आपात बैठक बुलाई। संयुक्त राष्ट्र की पाबंदी के बाद भी उ. कोरिया ने एक माह में दूसरा परीक्षण कर दुनिया को चुनौती दी है। एक दिन पहले ही अमेरिकी कांग्रेस ने रूस, ईरान व उ. कोरिया पर ताजा प्रतिबंध लगाए हैं। मिसाइल उत्तरी कोरिया के जेनगांग प्रांत से स्थानीय समयानुसार रात 11.41 बजे दागी गई। अमेरिकी रक्षा विभाग ने इसकी पुष्टि की है। पेंटागन के प्रवक्ता कैप्टन जैफ डेविस ने कहा कि यह मिसाइल करीब 1 हजार किमी की दूरी तय कर जापान के समुद्र में गिरी। यह इस साल का 12 वां व आईसीबीएम मिसाइल का दूसरा परीक्षण है। जापान के पीएम आबे ने कहा, आईसीबीएम स्तर की मिसाइल दागने से साफ है कि हमारे देश को खतरा वास्तविक व गंभीर है। आबे सरकार के मुख्य मंत्रिमंडलीय सचिव योशिहाइड सुगा ने कहा कि मिसाइल करीब 45 मिनट उड़ी। जापान की प्रसारण एजेंसी एनएचके के अनुसार मिसाइल 3000 किमी से ज्यादा की ऊंचाई तक पहुंचने के बाद निशाने पर पहुंची। यह इस माह के आरंभ में दागी गई मिसाइल से ज्यादा शक्तिशाली थी, जिसे अमेरिका व दक्षिण कोरिया के अधिकारियों ने अमेरिका तक मार करने में सक्षम बताया था। 4 जुलाई को उत्तर कोरिया द्वारा दागी गई मिसाइल 933 किमी दूर तक गई और 2802 किमी की ऊंचाई तक गई थी। वह बड़े व भारी परमाणु हथियार ले जाने में सक्षम थी।  

Dakhal News

Dakhal News 29 July 2017


नवाज शरीफ दोषी

इस्लामाबाद से खबर है कि  पाकिस्तान की सुप्रीम कोर्ट ने प्रधानमंत्री नवाज शरीफ को पनामा पेपर केस में दोषी मान लिया है। इसके बाद अब वो पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नहीं रह पाएंगे। पाक मीडिया की खबरों के अनुसार पांच जजों की बैंच ने उन्हें सर्वसम्मति से दोषी करार दिया है और सारी जिंदगी के लिए अयोग्य घोषित कर दिया है। पाक सुप्रीम कोर्ट की जस्टिस आसिफ सईद खोसा की अध्यक्षता वाली पांच सदस्यीय पीठ ने इस मामले में आपसी सहमति के बाद यह फैसला लिया है। कोर्ट ने नवाज शरीफ और उनके परिवार के खिलाफ मामलों को एनएबी ट्रायल कोर्ट भेजने के लिए कहा है जहां 6 महीने में इन पर फैसला होगा। अदालत ने नवाज के अलावा उनकी बेटी, दामाद और वित्त मंत्री को भी दोषी पाया गया है। वित्त मंत्री इशाक दार को भी अयोग्य घोषित किया है। नवाज के पीएम पद से हटने के बाद उनके भाई शाहबाज शरीफ पाकिस्तान के नए पीएम बनते हैं। शाहबाज फिलहाल पाकिस्तान के पंजाब प्रांत के मुख्यमंत्री हैं और सीधे तौर पर पीएम नहीं बन सकते। उन्हें पीएम बनने के लिए चुनाव लड़ना होगा। नवाज और उनके परिवार पर भ्रष्टाचार और मनी लांड्रिंग जैसे संगीन आरोप थे। नवाज शरीफ से सीधे जुड़े मामले की जांच के लिए सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर संयुक्त जांच दल (जेआईटी) गठित किया गया था। जेआईटी ने 10 जुलाई को अपनी रिपोर्ट सर्वोच्च न्यायालय को सौंपी थी। सुप्रीम कोर्ट ने 21 जुलाई को सुनवाई पूरी कर फैसला सुरक्षित रख लिया था। इसस पहले पीठ में शामिल रहे दो जजों के 11 अगस्त तक के लिए इस्लामाबाद से बाहर होने की बात कही गई थी। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक जेआईटी ने अपनी रिपोर्ट में शरीफ को प्रधानमंत्री पद के लिए अयोग्य ठहराने की सिफारिश की है। ऐसे में उनके भाई और पंजाब प्रांत के मुख्यमंत्री शाहबाज शरीफ के कमान संभालने के कयास भी लगाए जा रहे हैं।    

Dakhal News

Dakhal News 28 July 2017


डोनाल्ड ट्रंप

खबर वॉशिंगटन से। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और उनका प्रशासन रूस, ईरान और उत्तर कोरिया के खिलाफ और कड़े प्रतिबंध लगाने का समर्थन करते हैं. प्रतिनिधि सभा में इस कदम के पक्ष में मतदान किये जाने के एक दिन बाद व्हाइट हाउस ने यह बात कही. व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव सारा सैंडर्स ने   संवाददाताओं से कहा कि व्हाइट हाउस, राष्ट्रपति और पूरा प्रशासन रूस, ईरान और उत्तर कोरिया के खिलाफ प्रतिबंधों का पुरजोर समर्थन करते है. प्रतिबंध के पक्ष में प्रचंड बहुमत  : इससे पहले प्रतिनिधि सभा ने मंगलवार को तीन के मुकाबले 419 मतों के प्रचंड बहुमत से इन तीनों देशों के खिलाफ और कड़े प्रतिबंध लगाने का समर्थन करने वाला विधेयक पारित कर दिया. विधेयक का उद्देश्य अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में हस्तक्षेप करने और यूक्रेन और सीरिया में सैन्य हमले करने के लिए रूस को दंडित करना है. विधेयक को कानून बनाने ट्रंप के हस्ताक्षर जरुरी : इसमें यह भी मांग की गयी है कि आतंकवाद का लगातार समर्थन करने के लिए ईरान को उसका नतीजा भुगतना पड़े. विधेयक को पहले सीनेट से पारित कराना होगा और उसके बाद ही इसे कानून में बदलने के लिए ट्रंप के हस्ताक्षर के लिए व्हाइट हाउस भेजा जा सकता है.

Dakhal News

Dakhal News 27 July 2017


मैसाच्यूसेट इस्टीट्यूट ऑफ टैक्नॉलाजी

मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान के समक्ष मध्यप्रदेश पुलिस और विश्व के उत्कृष्टतम विश्वविद्यालयों में से एक मैसाच्यूसेट इस्टीट्यूट ऑफ टैक्नॉलाजी के मध्य समझौता आज मुख्यमंत्री निवास में हस्ताक्षरित हुआ। प्रदेश पुलिस को और अधिक जनोन्मुखी बनाने के लिये संस्थान द्वारा शोध कार्य किया जायेगा। इस अवसर पर पुलिस महानिदेशक श्री ऋषि कुमार शुक्ला और मैसाच्यूसेट इस्टीट्यूट ऑफ टैक्नॉलाजी शोध संस्थान के श्री अब्दुल लतीफ ज़मील, गरीबी उन्मूलन एक्शन लैब की दक्षिण एशियाई प्रमुख सुश्री शोभनी मुखर्जी ने समझौते पर हस्ताक्षर किये। इस मौके पर पुलिस अधिकारी, संस्थान के प्राध्यापक और शोधकर्ता उपस्थित थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में सामुदायिक पुलिसिंग को और अधिक प्रभावी बनाने के निरंतर प्रयास हो रहे हैं। इस दिशा में वर्ष 2009 से जनसुनवाई शुरू की गई। प्रदेश में महिलाओं के सशक्तिकरण की प्रभावी पहल के लिए पुलिस बल में उनके लिए 30 प्रतिशत आरक्षण का प्रावधान किया गया है। मुख्यमंत्री ने संस्थान के साथ हुये एम.ओ.यू. पर प्रसन्नता व्यक्त की। उन्होंने कहा कि शोध कार्य निष्पक्ष और निरपेक्ष रूप से किया जाये। अध्ययन के निष्कर्ष पुलिस व्यवस्था को अधिक बेहतर और मजबूत बनाने में सहयोगी हों। पुलिस महानिदेशक श्री ऋषि कुमार शुक्ला ने बताया कि प्रदेश की पुलिस व्यवस्था को और अधिक बेहतर तथा मज़बूत बनाने के लिये शोध का कार्य-क्षेत्र जनता एवं पुलिस के मध्य संवाद, पुलिस प्रतिक्रिया-प्रक्रिया और पुलिस बल में महिलाओं के एकीकरण पर केन्द्रित होगा। इस अवसर पर अपर मुख्य सचिव गृह श्री के. के. सिंह, मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव श्री अशोक बर्णवाल, अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक श्री राजीव टंडन और श्रीमती अनुराधा शंकर सिंह, प्रोफेसर वर्जीनिया विश्वविद्यालय श्री संदीप सूथांकर, प्रोफेसर हावर्ड विश्वविद्यालय श्री अक्षय मंगला, प्रोफेसर विज़नर वर्जीनिया सुश्री ग्रैब्रीला क्रूक्स, प्रोजेक्ट ऑफीसर जे.पी.ए.लैब दक्षिण एशिया श्री विष्णु पदमाभन, शोध सहायक श्री अंशुमान भार्गव उपस्थित थे।  

Dakhal News

Dakhal News 27 July 2017


श्रीलंका- चीन

खबर कोलंबो से। सिक्किम में भारत के साथ सीमा विवाद में लगे चीन को नया झटका लगा है। श्रीलंका ने उसके साथ हंबनटोटा पोर्ट को लेकर होने वाली डील में बदलाव किए हैं। खबरों के अनुसार पड़ोसी देश ने अपने यहां बंदरगाह बना रहे चीन पर नई शर्तें लागू की हैं। श्रीलंका की कैबिनेट ने इस संबंध में मंगलवार को ही एक संशोधित समझौता पास किया है। चीनी कंपनी की मदद से श्रीलंका हंबनटोटा पोर्ट को विकसित करना चाहता है। इसके तहत किए गए पहले समझौते का खुद श्रीलंका में ही लोगों ने काफी विरोध किया, जिसके बाद इस समझौते में संसोधन करना पड़ा। यह बंदरगाह दुनिया की सबसे व्यस्त शिपिंग लेन के करीब है, यह उस वक्‍त विवादों में घिर गया जब निजीकरण के प्रयासों के तहत इसके चीनी कंपनी के हाथों में जाने की बात सामने आई। चीन मर्चेंट्स पोर्ट होल्डिंग्स ने 1.5 बिलियन डॉलर (करीब 9 हजार 7 करोड़ रुपये) में इस बंदरगाह को विकसित करने का समझौता किया। इसके तहत कंपनी को इसमें 80 फीसदी हिस्सेदारी देने की बात तय की गई। अब नए समझौते में श्रीलंका सरकार ने बंदरगाह पर वाणिज्यिक परिचालन में चीन की भूमिका को सीमित करने की मांग की है। बंदरगाह पर व्यापक सुरक्षा निगरानी खुद के पास ही रखने को कहा है। हंबनटोटा पोर्ट एशिया में आधुनिक सिल्क रूट का अहम हिस्सा है। इंडस्ट्रियल जोन विकसित करने के नाम पर चीन यहां 15000 एकड़ जमीन अधिगृहित करने की योजना में है। ऐसे में श्रीलंका के अलावा दूसरे देशों खासकर भारत की तरफ से ऐसी चिंता जाहिर की गई कि चीन इसका इस्तेमाल नेवी बेस के तौर पर कर सकता है। श्रीलंका में भी इसे लेकर काफी विरोध प्रदर्शन हुए। लोगों ने अपनी जमीन खोने का डर जताया था। इसके अलावा श्रीलंका के राजनेताओं ने इतने बड़े जमीन के टुकड़े का नियंत्रण चीन के पास जाने को देश की संप्रभुता के साथ समझौते के रूप में भी देखा था।

Dakhal News

Dakhal News 26 July 2017


अजीत डोभाल

अजीत डोभाल के चीन दौरे से पहले वहां के सरकारी अखबार ने नया आरोप मढ़ा है। ग्लोबल टाइम्स ने अपने आर्टिकल में भारत के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल पर आरोप लगाया है कि डोकलाम विवाद के पीछे उनका ही दिमाग है। चीनी मीडिया ने ऐसे समय में अजीत डोभाल पर निशाना साधा है, जब वे ब्रिक्स की बैठक में हिस्सा लेने बिजिंग जा रहे हैं। माना जा रहा है कि यहां डोभाल की चीन के एनएसए से मुलाकात हो सकती है। ब्रिक्स के सदस्य देशों के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार 27 व 28 जुलाई को बैठक करने जा रहे हैं। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता लू-कांग ने कहा कि वह इस बात की पुष्टि नहीं कर रहे हैं, लेकिन ब्रिक्स की पिछली बैठकों के दौरान द्विपक्षीय वार्ता हो चुकी है। हालांकि जब उनसे पूछा गया कि क्या ब्रिक्स की बैठक के दौरान डोकलाम की विवाद पर चर्चा होगी तब उनका कहना था कि भारत ने गलत तरीके से चीन की सीमा को लांघा है। किसी भी तरह की वार्ता के लिए जरूरी है कि पहले भारत अपनी सेना को पीछे हटाए। चीन के सरकारी अखबार ग्लोबल टाइम्स के एक लेख में लिखा है कि चीन और भारत के बीच चल रहे डोकलाम विवाद के पीछे एनएसए अजीत डोभाल हैं। साथ ही लेख में लिखा है कि भारतीय मीडिया इस तरह का माहौल बना रहा है कि जैसे उनकी यात्रा से सब ठीक हो जाएगा। ग्लोबल टाइम्स के लेख में लिखा है कि अगर भारत ऐसा सोचता है कि अजीत डोभाल की यात्रा से बीजिंग मान जाएगा तो यह बिल्कुल गलत है। लेख में लिखा है कि सीमा विवाद सुलझाने के लिए डोभाल की यात्रा का समय ठीक नहीं है और ना ही इसमें भारत की इच्छानुसार कुछ होगा। लेख में डोभाल पर निशाना साधते हुए कहा गया है कि डोकलाम विवाद के पीछे अजीत डोभाल का ही दिमाग है। सोमवार को चीनी विदेश मंत्रालय की ओर से कहा गया था कि चीनी एनएसए और अजीत डोभाल में बातचीत हो सकती है, लेकिन साथ ही उन्होंने डोकलाम मुद्दे पर कोई सकारात्मक बात होने की आशंका जताई थी। गौरतलब है कि इससे पहले चीन के रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता ने भारत को मुगालते में न रहने की चेतावनी दी थी। चीनी सेना की 90 वीं वर्षगांठ पर उनका कहना था कि अपने देश की संप्रभुता की रक्षा के लिए चीनी सेना किसी भी हद तक जा सकती है। भारत केवल भाग्य भरोसे न बैठे। जरूरत पड़ी तो चीन की सेना किसी भी हद को पार करने से गुरेज नहीं करेगी। उनके लिए अपने देश का हित सर्वोपरि है। चीन से चल रहे विवाद पर विदेश मंत्री सुषमा स्वराज का कहना है कि पड़ोसी देश अनाधिकृत तरीके से भारत की सीमा में घुस रहा है।

Dakhal News

Dakhal News 25 July 2017


मुंबई में बिल्डिंग गिरी

  मुंबई के घाटकोपर इलाके में एक बड़ा हादसा हुआ है। यहां एक 4 मंजिला इमारत अचानक भरभरा कर गिर गई। हादसे के तुरंत बाद राहत और बचाव कार्य शुरू कर दिया गया है। अब तक मलबे से 9 लोगों को निकाला जा चुका है वहीं 12 लोगों की मौत हो गई है। जानकारी के अनुसार अब भी 30 लोगों के मलबे में दबे होने की आशंका जताई जा रही है। अधिकारियों के अनुसार हादसा सुबह करीब 10:45 के आसपास हुआ। घटना की सूचना मिलने के बाद दमकल के अलावा राहत और बचाव दल के सदस्य मौके पर पहुंची और फंसे हुए लोगों को निकालना शुरू किया।  हादसे के बाद राज्य के गृह निर्माण मंत्री प्रकाश मेहता ने बयान देते हुए कहा है कि इलाके में इस तरह की कई इमारतें बनी हुई हैं। अगर इसमें कोई लापरवाही हुई है तो जांच कर दोषियों पर कार्रवाई की जाएगी।

Dakhal News

Dakhal News 25 July 2017


काबुल में कार धमाका

अफगानिस्तान की राजधानी काबुल के पश्चिमी क्षेत्र में हुए एक भीषण बम धमाके में मरने वालों की संख्या 35 तक पहुंच गई है वहीं 42 से ज्यादा लोग घायल है। सोमवार को हुए इस आत्मघाती हमले में हमलावर ने कार में धमाका किया। यह धमाका राजधानी एफडी 6 इलाके में हुआ है। फिलहाल इस धमाके की किसी ने जिम्मेदारी नहीं ली है। धमाके में घायल लोगों को नजदीक अस्पताल में भर्ती कराया जा रहा है। पुलिस के अनुसार, हमले का लक्ष्य स्पष्ट नहीं है। आशंका जताई जा रही है कि इस हमले में मरने वालों की संख्या बढ़ सकती है।  

Dakhal News

Dakhal News 24 July 2017


यूएस नेवी

डोकलाम सीमा विवाद को लेकर भारत पर आक्रामक हुए चीन के लिए अमेरिका ने चिंता बढ़ा दी हैं। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के एक आक्रामक कदम से चीन की बैचेनी बढ़ गई है। ट्रंप ने अपनी नौसेना (यूएस नेवी) को दक्षिण चीन सागर में खुली छूट दे दी है जिसकी वजह से यहां अपनी सैन्य मौजूदगी बढ़ा रहा चीन पूरी तरह से दवाब की स्थिति में आ गया है। ट्रंप के इस फैसले से ड्रैगन के दक्षिण चीन सागर पर दावेदारी पेश करने को बड़ी चुनौती मिली है। आपको बता दें कि चीन के अलावा पांच अन्य देश वियतनाम, मलयेशिया, इंडोनेशिया, ब्रुनेई और फिलीपींस दक्षिण चीन सागर पर अपना दावा जताते हैं। चीन की सत्ताधारी कम्युनिस्ट पार्टी फिलहाल अपने कॉन्क्लेव की तैयारी कर रही है जिसमें कई बड़े राजनैतिक बदलाव होने वाले हैं और ऐसे समय में अमेरिका द्वारा उठाए गए इस कदम से चीन की बढ़ती नौसेना दक्षिण चीन सागर में ही उलझी रहेगी और चीन पर भारत और जापान जैसे दूसरे देशों के साथ सीमा विवाद के मसले पर दवाब पड़ेगा। अमेरिका रक्षा मंत्री जिम मैटिस द्वारा पेश की योजना के अनुसार, दक्षिण चीन सागर में अमेरिकी नौसेना के जहाजों की तैनाती पूरे एक साल तक रहेगी। अमेरिका नेवी को इस बार ओबामा प्रशासन के मुकाबले ज्यादा आजादी दी जाएगी। ट्रंप प्रशासन का यह फैसला ऐसे समय में आया है जब बाल्टिक सागर में चीन और रूस संयुक्त नौसैनिक अभ्यास कर रहे हैं। वहीं, जानकारों की मानें तो कि बीजिंग संयुक्त नौसैनिक युद्धाभ्यास के जरिए रूस को भरोसे में लेने में लगा है तांकि वह जता सके कि पश्चिमी शक्तियों के हमले से वह (चीन) रूस के साथ खड़ा रहेगा। ग्लोबल टाइम्स से बात करते हुए चीनी नौसेना के एक अधिकारी ने बताया कि चीन ने अपने आधुनिक गाइडेड मिसाइल विध्वंसक भेजकर रूस के प्रति अपनी गहरी दोस्ती की ओर इशारा किया है। इसके साथ ही हमें उकसाने वाले देशों के लिए यह एक चुनौतीपूर्ण संदेश है। चीन अंतर्राष्ट्रीय अदालत में चीन पहले मात खा चुका है। हेग स्थित अंतर्राष्ट्रीय अदालत ने चीन द्वारा साउथ चाइना सी पर जताए गए दावे को खारिज कर उसे गैरकानूनी और अतिक्रमण वाला बताया था। लेकिन चीन ने कोर्ट के फैसले को नकार दिया।    

Dakhal News

Dakhal News 23 July 2017


 विदेशी मुद्रा भंडार

भारत के विदेशी मुद्रा भंडार में 2.681 बिलियन अमेरिकी डॉलर का इजाफा देखने को मिला है। 14 जुलाई को समाप्त हुए सप्ताह के दौरान भारत का विदेशी मुद्रा भंडार बढ़कर नए लाईफ टाइम हाई के साथ 389.059 बिलियन डॉलर के स्तर पर पहुंच गया। इस इजाफे में फॉरेन करेंसी एसेट्स का प्रमुख योगदान रहा है। आरबीआई के डेटा में यह बात सामने आई है। आरबीआई की ओर से जारी किए गए डेटा के मुताबिक बीते सप्ताह विदेशी मुद्रा भंडार 161.9 मिलियन डॉलर गिरकर 386.377 बिलियन डॉलर पर पहुंच गया था। फॉरेन करेंसी एसेट्स जिसका ओवरऑल रिजर्व में बड़ा योगदान होता है वह 2.677 बिलियन डॉलर बढ़कर 364.908 बिलियन के स्तर पर पहुंच गया। अगर इसे यूएस डॉलर के संदर्भ में नापे तो फॉरेन करेंसी एसेट्स में नॉन यूएस करेंसी, जैसे की यूरो,पौंड और येन (जिन्हें रिजर्व में रखा जाता है) की मूल्यवृद्धि और मूल्यह्रास दोनों ही शामिल होते हैं। वहीं गोल्ड रिजर्व बिना किसी बड़े बदलाव के 20.348 बिलियन डॉलर पर बरकरार है। वहीं इंटरनेशनल मॉनीटरी फंड (आईएमएफ) के साथ स्पेशल ड्राइंग राइट्स भी 1.8 मिलियन डॉलर बढ़कर 1.479 बिलियन डॉलर के स्तर पर पहुंच गए। वहीं आईएमएफ में भी देश की रिजर्व पोजीशन 2.7 मिलियन डॉलर बढ़कर 2.322 बिलियन डॉलर तक पहुंच गई।  

Dakhal News

Dakhal News 22 July 2017


सीरिया -कश्मीर

कश्मीर समस्या सुलझाने के लिए चीन और अमेरिका की मदद लेने वाले फारुक अब्दुल्ला के बयान पर कड़ी प्रतिक्रियाएं आ रहीं हैं। राहुल गांधी और भाजपा के बाद अब जम्मू-कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने अनंतनाग में बड़ा बयान देते हुए कहा है कि अगर अमेरिका ने हस्तक्षेप किया तो कश्मीर भी सीरिया बन जाएगा। मुफ्ती ने कहा कि चीन और अपनेरिका अपने काम से काम रखें, हम सब जानते हैं कि उन देशों के क्या हाल हैं जहां इन्होंने हस्तक्षेप किया, फिर चाहे वो अफगानिस्तान हो, सीरिया हो या इरका हो। उन्होंने कहा कि सिर्फ दोनों पक्षों के बीच वार्ता से ही कश्मीर मुद्दे के समाधान में मदद मिल सकती है। मुफ्ती ने पूर्व प्रधानमंत्री वाजपेयी का जिक्र करते हुए कहा कि उन्होंने लाहौर डेलिरेशन में कहा था कि भारत और पाकिस्तान दोनो बात करके कश्मीर मुद्दा सुलझाएं। मुफ्ती ने फारुक अब्दुल्ला से सवाल पूछा कि वो जानते हैं अफगानिस्तान और सीरिया के क्या हाल हुए हैं? शुक्रवार को फारुक अब्दुल्ला ने कहा था कि भारत को कश्मीर मुद्दा सुलझाने के लिए चीन और अमेरिकी की मदद लेनी चाहिए।  

Dakhal News

Dakhal News 22 July 2017


 मुफ्त मिलेगा जियो फोन

नई दिल्ली में रिलायंस जियो की सालाना बैठक में शुक्रवार को मुकेश अंबानी ने बड़ा धमाका करते हुए पहला 4जी फीचर फोन लॉन्च कर दिया। मुकेश अंबनी ने इस दौरान कंपनी के शेयर धारकों, कर्मचारियों और जियो यूजर्स को भी धन्यवाद दिया। इस फोन की सबसे बड़ी खास बात यह होगी कि इसे खरीदने के लिए यूजर्स को कोई कीमत नहीं देनी होगी, मतलब यह फोन पूरी तरह से फ्री में मिलेगा। हालांकि इसके लिए यूजर्स को कंपनी के पास तीन साल के लिए 1500 रुपए का सिक्युरिटी डिपॉजीट देना होगा जो फोन वापस करने पर रिफंड हो जाएगा। उन्होंने आगे कहा कि 15 अगस्त से इस फोन का ट्रायल शुरू होगा और 24 अगस्त से यह फोन प्री बुकिंग के लिए उपलब्ध होगा। मुकेश अंबानी ने इस दौरान जियो फीचर फोन को इंडिया का इंटेलीजेंट फोन करार दिया। यह फीचर फोन मेक इन इंडिया के तहत भारत में ही बनाया गया है। इस फोन को यूजर्स वॉइस कमांड के माध्यम से भी चला सकते हैं। इसके बाद मुकेश अंबानी ने कहा कि यह फोन देश के 50 करोड़ फीचर फोन यूज करने वालों की जरूरतों को पूरा करेगा। इस फीचर फोन के लिए टेरिफ प्लान्स की घोषणा करते हुए कहा कि इसमें वॉइस कॉलिंग हमेशा मुफ्त रहेगी। इसके अलावा अनलिमिटेड डेटा मिलेगा। यूजर्स को सिर्फ 153 रुपए में एक महीने तक अनलिमिटेड डेटा मिलेगा। जियो फोन यूजर्स को जियो धन धना धन ऑफर का फायदा भी कम कीमत पर मिलेगा। 309 रुपए में यूजर्स रोजाना 3-4 घंटे वीडियो देख पाएंगे। यह फोन किसी भी टीवी से जुड़ जाएगा। इसके लिए जियो ने एक फोन टीवी केबल बनाया है। इससे पहले अंबानी के स्वामित्व वाली कंपनी रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड (आरआईएल) की शेयरधारकों के साथ शुक्रवार को 40वीं एजीएम (एनुअल जनरल मीटिंग) शुरू हुई है। मुकेश अंबानी ने कंपनी पर भरोसा करने के लिए शेयर धारकों का शुक्रिया अदा किया। यह एजीएम मुंबई के बिड़ला मातोश्री सभागार में हो रही है। अंबानी ने इस बैठक में 1970 से लेकर अब तक के सफर की उपलब्धियों को गिनाया। उन्होंने बताया कि साल 1970 में कंपनी का टर्नओवर 70 करोड़ था वो आज 3 लाख 30,000 करोड़ तक पहुंच गया है। वहीं कंपनी की कुल एसेट्स भी 33 करोड़ से 7 लाख करोड़ हो गई। यह करीब 20,000 गुना का इजाफा है। मुकेश अंबानी ने कहा कि कंपनी बीते 40 सालों में सबसे बड़ी कंपनी बन गई है। मुकेश अंबानी ने कहा कि कंपनी ने बीते 40 सालों में बड़ी ग्रोथ हासिल की। उन्होंने कहा कि कंपनी की ग्रोथ इस दौरान 4700 गुना बढ़ी। इस दौरान कंपनी का मार्केट कैपिटलाइजेशन 10 करोड़ से 5 लाख करोड़ रुपए हो गया। यह करीब 50,000 गुना का इजाफा है। वहीं बीते 40 साल में कंपनी का नेट मुनाफा 10,000 गुना बढ़ा है। अंबानी ने बताया कि इस दौरान कंपनी की नेट आय 3.66 लाख करोड़ हो गई।  

Dakhal News

Dakhal News 21 July 2017


डोकलाम

डोकलाम में सीमा पर जारी तनाव के बीच चीन ने एक बार फिर भारत से अपनी सेना वापस बुलाने को कहा है। चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता लू कांग ने मंगलवार को कहा कि भारत को अपने राजनीतिक लक्ष्यों की पूर्ति के लिए अतिक्रमण को एक नीति के तौर पर इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। डोकलाम इलाके में भारतीय सेना के प्रवेश को अवैध बताते हुए उन्होंने कहा कि इसने अंतरराष्ट्रीय बिरादरी का ध्यान अपनी ओर खींचा है। लू के अनुसार, कई देशों के राजनयिक भारत के इस कदम से हैरान हैं। इस बीच, मीडिया इस मुद्दे को ज्यादा ही उछाल रहा है। सरकारी समाचार पत्र 'ग्लोबल टाइम्स' ने मंगलवार को फिर से भारत को चेतावनी देते हुए लिखा कि चीन किसी भी तरीके के टकराव के लिए तैयार है। डोकलाम मुद्दे पर चीन युद्ध से पीछे नहीं हटेगा। अगर ऐसा हुआ तो भारत को इस टकराव का खामियाजा भुगतना पड़ेगा। अखबार ने कहा कि भविष्य में होने वाले सभी तरह के टकरावों के लिए तैयार रहना चाहिए।भारत अगर कई जगहों से मुश्किलों का सामना कर रहा है तो उसे वास्तविक नियंत्रण रेखा पर भी टकराव का सामना करना होगा। उल्लेखनीय है कि 16 जून से बढ़े तनाव के बाद से ही चीनी मीडिया लगातार इस तरह की भाषा का प्रयोग कर रहा है। हाल ही में चीनी मीडिया की ओर से सेना द्वारा गोलीबारी का अभ्यास करते हुए वीडियो भी जारी किया गया था। अखबार ने लिखा है कि भारत की इस तरह की कार्रवाई चीन की संप्रभुता को चुनौती है। जिस तरह से लगातार तनाव बढ़ रहा है, चीन को उसके लिए बिल्कुल तैयार रहना चाहिए। हालांकि, इसके साथ ही समझदारी का भी उपयोग करना चाहिए। अखबार के अनुसार, अगर भारत सीमा पर अपनी सेना को मजबूत करता है तो चीन भी ऐसा ही करेगा।

Dakhal News

Dakhal News 19 July 2017


महिला सांसद स्लीवलेस कपडे

महिलाओं के पहनावे को लेकर अक्सर विवाद होते रहते हैं लेकिन इस बार यह मामला भारत नहीं बल्कि अमेरिका का है। यहां अमेरिकी महिला सांसदों ने स्लीवलेस कपड़ों के लिए प्रदर्शन किया है। उनकी मांग है कि उन्हें इन्हें पहनने से रोका ना जाए। जानकारी के अनुसार अमेरिका में 30 महिला सांसदों ने स्लीवलेस कपड़े (बिना बांह के कपड़े) पहनने पर लगी रोक के खिलाफ वॉशिंगटन डीसी में स्थित यूएस कैपिटोल में प्रदर्शन किया। सांसदों ने हाउस चैंबर के पास स्पीकर की लॉबी में यह प्रदर्शन किया। यह वहीं स्थान है जहां पत्रकार साक्षात्कार लेते हैं। इस रूम में प्रवेश के लिए महिला पत्रकारों और सांसदों को पूरी बांह के कपड़े पहनकर आना अनिवार्य है। वहीं, पुरुषों के लिए जैकेट और टाई पहनना अनिवार्य है। हाल में सीबीएस न्यूज रिपोर्ट में एक महिला पत्रकार को स्लीवलेस कपड़े पहनने के कारण रूम में प्रवेश नहीं दिया गया था, जिसके बाद यह मामला खासतौर पर महिला पत्रकारों के बीच चर्चा में आ गया था। आलोचना के बीच रिपब्किलन सांसद मार्था मैकसेली ने कहा, 'वापस जाने से पहले मैं कहना चाहती हूं कि मैं अपनी पेशेवर पोशाक में हूं जो स्लीवलेस ड्रेस और आगे से खुले हुए जूते हैं।' मैकसेली की इस टिप्पणी यह विरोध प्रदर्शन की शुरुआत हो गई। इसके बाद महिला सांसदों ने 'स्लीवलेस फ्राइडे' मनाया और स्लीवलेस ड्रेस पहनकर यूएस कैपिटोल पहुंची। प्रदर्शन को लेकर प्रतिनिधि सभा अध्यक्ष पॉल रयान ने कहा कि जल्द ही इस नियम को लेकर बदलाव किया जाएगा। कैलिफोर्निया में डेमोक्रेट पार्टी की सांसद लिंडा सांचेज ने बताया कि कुछ वर्ष पूर्व तक यहां महिला शौचालय नहीं थे। उन्होंने कहा, 'ये नियम पुरातन काल के हैं। अगर हम परंपरा का पालन करते तो इस फ्लोर में महिला शौचालय नहीं होता।'

Dakhal News

Dakhal News 17 July 2017


indian army

नई दिल्‍ली। मौजूदा समय में चीन और पाकिस्‍तान से भारत के तनावपूर्ण संबंध चल रहे हैं। एक तरफ सिक्किम सीमा पर कथित घुसपैठ को लेकर चीन सैन्‍य कार्रवाई तक की धमकी दे चुका है, वहीं तमाम वैश्विक प्रतिबंधों व दबावों के बावजूद पाकिस्‍तान जम्‍मू-कश्‍मीर में सीमा पार आतंकवाद को बढ़ावा देने से बाज नहीं आ रहा है। ऐसे में चीन-पाकिस्‍तान के खतरे से निपटने और भारतीय हित के विस्‍तार के लिए सेना के आधुनिकरण की जरूरत है। इसीलिए सशस्त्र बलों ने सरकार से अगले पांच साल में 26.84 लाख करोड़ रुपए आवंटित करने की मांग की है। टाइम्‍स ऑफ इंडिया के अनुसार, रक्षा मंत्रालय के सूत्रों ने बताया कि 10 और 11 जुलाई को यूनिफाइड कमांडर्स कॉन्फ्रेंस में पांच साल की (2017-2022) 13वीं संयुक्त रक्षा योजना पेश की गई, जो 26,83,924 करोड़ रुपए की है। इसमें डीआरडीओ सहित सभी हितधारकों को शामिल किया गया है। एक सूत्र ने कहा कि सशस्त्र बलों ने 13वीं रक्षा योजना को जल्द मंजूरी देने पर जोर दिया, क्‍योंकि उनका वार्षिक अधिग्रहण प्लान इसी पर निर्भर है। कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए केंद्रीय रक्षा मंत्री अरुण जेटली ने भरोसा दिया कि आधुनिकीकरण पर निवेश को प्राथमिकता दी जाएगी। मौजूदा समय में भारत का रक्षा बजट 2.74 लाख करोड़ रुपए है, जो जीडीपी का 1.56 फीसद है। यह 1962 में चीन के खिलाफ युद्ध के बाद से न्यूनतम आंकड़ा है। सेना चाहती है कि रक्षा बजट को बढ़ाकर जीडीपी के 2 फीसद तक किया जाए। 13वीं रक्षा योजना के अनुसार, पूंजीगत व्यय के लिए 12,88,654 करोड़ रुपए का अनुमान लगाया गया है, जबकि राजस्व व्यय के लिए 13,95,271 करोड़ रुपए का अनुमान लगाया गया है।

Dakhal News

Dakhal News 16 July 2017


अलकायदा भारतीय उपमहाद्वीप

  खबर है वाशिंगटन से । यह भारतीय उपमहाद्वीप के लिए परेशान करने वाली खबर है कि आतंकी संगठन अलकायदा लगातार अपने नेटवर्क का विस्तार कर रहा है। इस उपमहाद्वीप में 2017 तक अलकायदा ने सैकड़ों लोगों को अपने साथ जोड़ा है। अमेरिका के सुरक्षा विशेषज्ञों ने इसपर चिंता जाहिर करते हुए अमेरिकी सरकार की आतंकरोधी व खुफिया उप समिति के सदस्यों को इसकी जानकारी दी है। विशेषज्ञों ने बताया कि अलकायदा का अफगानिस्तान के हेलमंद, कंधार, जाबुल आदि इलाकों में मजबूत संगठन है। इसका नेटवर्क बांग्लादेश में भी है। विशेषज्ञ सेट जी जोंस ने कहा कि अफगानिस्तान में सक्रिय आतंकी संगठनों से रिश्ते के कारण अलकायदा वहां अपनी जड़ें जमाता जा रहा है। इन संगठनों में तालिबान से लेकर तहरीक-ए-तालिबान व लश्कर-ए-झांगवी शामिल हैं। इसके अतिरिक्त अलकायदा ने अपने मीडिया संगठन अल सहाब के जरिए पूरे भारतीय महाद्वीप में प्रचार-प्रसार का अभियान चला रखा है। अल कायदा के नेता अयमान अल जवाहिरी ने सितंबर 2014 में ही भारतीय उपमहाद्वीप के लिए अलग से क्षेत्रीय संगठन कायदा अल जिहाद बनाने की घोषणा की थी। इसका प्रमुख एक भारतीय को बनाया गया। अमेरिकी सांसदों को जानकारी दी गई कि इस संगठन के बैनर तले लोगों को जिहाद का झंडा बुलंद करने व पूरे भारतीय उप महाद्वीप में इस्लामिक कानून का शासन स्थापित करने के लिए आगे आने को उकसाया जा रहा है। अलकायदा ने पाकिस्तान में कभी अपनी जमीन नहीं खोयी और यहीं से अफगानिस्तान में काम करते हुए वहां अपने को स्थापित किया।  

Dakhal News

Dakhal News 14 July 2017


असम में  बाढ़ से 44 की मौत

17 लाख से ज्यादा प्रभावित असम में बाढ़ से स्थिति और भयावह हो गई है। राज्य के 24 जिले बाढ़ की चपेट में है। अभी तक 44 लोगों की जान जा चुकी है। करीब 17.2 लाख लोग बाढ़ से प्रभावित हैं। बाढ़ का असर इंसानों के साथ-साथ जानवरों पर पड़ रहा है। गैंडों के लिए मशहूर काजीरंगा नैशनल पार्क आधा डूब चुका है। पार्क के जानवरों को बाढ़ से बचाने की कोशिश जारी है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पूर्वोत्तर के विभिन्न हिस्से में बाढ़ की स्थिति पर पीड़ा का इजहार किया है। उन्होंने इससे निपटने के लिए केंद्र से सभी तरह की सहायता देने का वादा किया है। साथ ही गृह राज्य मंत्री किरण रिजिजू से बचाव एवं राहत कार्यों के पर्यवेक्षण और सभी जरूरी मदद उपलब्ध कराने को कहा है। प्रधानमंत्री ने बाढ़ की स्थिति को लेकर अरुणाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री पेमा खांडू और असम के मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल से बातचीत की है। इसके अलावा उन्होंने वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये राज्यों के शीर्ष अधिकारियों के साथ हर महीने होने वाली 'प्रगति' बैठक में भी पूर्वाेत्तर बाढ़ की स्थिति की समीक्षा की। प्रधानमंत्री ने ट्वीट कर कहा, 'पूर्वोत्तर के विभिन्न हिस्सों में बाढ़ प्रभावित लोगों की पीड़ा को साझा करता हूं। असम के मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल ने बुधवार को बाढ़ग्रस्त माजुली जिले का दौरा किया और राहत शिविरों का जायजा लिया। भीषण बाढ़ के चलते 1,760 हेक्टेयर की फसल बर्बाद हो गई है और सैकड़ों लोग बेघर हो गए हैं। सोनोवाल ने काजीरंगा अभयारण्य का भी दौरा किया और अधिकारियों को पशुओं पर नजर रखने का निर्देश दिया, ताकि वे शिकारियों का निशाना न बनें। उन्होंने कहा कि नगांव, गोलाघाट, कार्बी आंगलोंग, सोनितपुर जिलों का प्रशासन बाढ़ के हालात के बारे में रोज वन मंत्री को रिपोर्ट करेगा और पशुओं की सुरक्षा के उपाय करेगा। पूर्वोत्तर के बाढ़ प्रभावित इलाकों में राहत एवं बचाव अभियानों का आकलन करने के लिए केंद्रीय मंत्री किरन रिजिजू के नेतृत्व में एक उच्च स्तरीय केंद्रीय दल जाएगा। इस घड़ी में पूरा देश पूर्वोत्तर के लोगों के साथ है। रिजिजू के नेतृत्व में उच्चस्तरीय केंद्रीय दल राहत एवं बचाव कार्यों का जायजा लेने के लिए गुरुवार से तीन दिनों तक असम, अरुणाचल प्रदेश और मणिपुर का दौरा करेगा। दल में राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन अथारिटी, नीति आयोग और एनडीआरएफ के सदस्य शामिल हैं।  

Dakhal News

Dakhal News 13 July 2017


मुंबई स्कूल प्रिंसिपल एसोसिएशन

खबर मुंबई से ।डोकलाम में चीन से चल रहे विवाद के बीच मुंबई स्कूल प्रिंसिपल एसोसिएशन ने एक नई पहल की है। चीन की हठधर्मिता का जवाब देने के लिए छात्रों से अपील की जा रही है कि वह चीनी माल खरीदने से गुरेज करें। एसोसिएशन का कहना है कि अपने नेताओं के हाथ मजबूत करने के लिए ऐसा किया जा रहा है। मुंबई स्कूल प्रिंसिपल एसोसिएशन के अधिकार क्षेत्र में तकरीबन 15 सौ स्कूल हैं। छात्रों को 1962 के भारत-चीन युद्ध का इतिहास पढ़ाया जा रहा है। शिक्षक उन्हें बता रहे हैं कि कैसे चीन ने पीठ में छुरा मारकर हमारी जमीन हथिया ली। फिर उनसे अपील की जा रही है कि वह अपने परिवार को भी इस बारे में जागरूक करें और चीनी सामान खरीदने से गुरेज करें। इस बाबत ड्राफ्ट तैयार कर लिया गया है। इसे और प्रभावी बनाने के लिए एसोसिएशन अपनी बैठक में विचार करेगी। सर्वसम्मति से यह पारित हो जाएगा तो कुछ और भी प्रावधान इस दिशा में किए जा सकते हैं। फिलहाल उद्देश्य मुंबई महानगर के सभी विद्यार्थियों को जागरूक करना है। हालांकि एसोसिएशन केवल अपील कर रही है। छात्रों के लिए ऐसी कोई अनिवार्यता घोषित नहीं की गई है। एसोसिएशन के सचिव प्रशांत रेडिज का कहना है कि कानूनी बाध्यता व अंतरराष्ट्रीय व्यापार समझौते को ध्यान में रखते हुए वह केवल अपील कर रहे हैं। छात्रों को जागरूक करके बताने की कोशिश है कि चीनी माल का बहिष्कार करने से भारत के हाथ मजबूत होंगे। उनका कहना है कि बच्चे कल देश के नागरिक बनेंगे, उन्हें पता होना चाहिए कि चीन किस तरह का खतरा है।  

Dakhal News

Dakhal News 12 July 2017


सीएम महबूबा मुफ्ती

अटैक को लेकर दिल्ली में मंगलवार को एक हाईलेवल मीटिंग  अनंतनाग में अमरनाथ यात्रियों पर हमले के बाद सीएम महबूबा मुफ्ती ने मंगलवार को अस्पताल में घायलों से मुलाकात की। उन्होंने हाथ जोड़कर हमले पर अफसोस जताया। बाद में कहा- सभी कश्मीरियों के सिर शर्म से झुक गए। इस बीच, कश्मीर के IG मुनीर खान ने कहा कि हमले के पीछे लश्कर-ए-तैयबा का हाथ है। मास्टर माइंड लश्कर का पाकिस्तानी टेररिस्ट इस्माइल है। केंद्रीय मंत्री वेंकैया नायडू ने भी कहा, "हमले के दोषियों को बख्शने का सवाल ही नहीं है। हमारा पड़ोसी आतंकवाद को प्रमोट कर रहा है।" बता दें कि अनंतनाग में सोमवार रात हुए इस हमले में 5 महिलाओं समेत 7 यात्रियों की मौत हो गई। 15 यात्री जख्मी भी हुए हैं। हमले के शिकार 3 यात्री गुजरात, 2 दमन और 2 महाराष्ट्र के थे। ये लोग यात्रा पूरी कर जम्मू लौट रहे थे।  हमले में मारे गए लोगों को सीएम महबूबा मुफ्ती और गवर्नर एनएन वोहरा ने श्रीनगर एयरपोर्ट पर श्रद्धांजलि दी।महबूबा ने अस्पताल में घायलों से मुलाकात के दौरान हाथ जोड़कर हमले पर अफसोस जताते हुए कहा, ''आप लोग गुजरात से आए हैं हमारे यहां यात्रा करने के लिए और हम लोगों ने क्या किया आपके साथ?'' इस पर एक अमरनाथ यात्री ने कहा- कोई बात नहीं। आपने हमारे साथ अच्छा ही किया है। आप लोगों ने हमारी काफी मदद की है। महबूबा ने बाद में मीडिया से कहा, ''सभी कश्मीरियों के सिर शर्म से झुक गए। ये लोग इतने मुश्किलात के बावजूद इतनी दूर से यहां यात्रा करने आते हैं। मेरे पास अल्फाज नहीं हैं इस हमले की निंदा करने के लिए।'' कांग्रेस लीडर रणदीप सुरजेवाला ने कहा, "ये हमला सरकार और सिक्युरिटी एजेंसी की सुरक्षा में चूक का मसला है। इंटेलिजेंस को 25 जून को ही इनपुट मिल गए थे, लेकिन फिर भी जरूरी कदम क्यों नहीं उठाए गए?" MHA के हेलीकॉप्टर के जरिए अटैक में मारे गए लोगों की बॉडी को एयरलिफ्ट किया गया। कड़ी सुरक्षा के बीच अमरनाथ यात्रा के लिए नए जत्थे को रवाना किया गया। CRPF के IG (ऑपरेशंस) ने कहा आगे कोई ऐसी घटना ना हो, इसके इंतजाम किए गए हैं।राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने कहा, "हम इस हमले की कड़ी निंदा करते हैं। इसमें मारे गए निर्दोष लोगों के लिए गहरा दुख है।  हमले के बाद सोमवार रात नरेंद्र मोदी ने ट्वीट कर कहा, ''जम्मू कश्मीर में शांतिप्रिय अमरनाथ यात्रियों पर कायराना हमले से दुख हुआ। हर किसी को इस हमले की कड़ी से कड़ी निंदा करनी चाहिए। मेरी संवेदनाएं हमले में मारे गए लोगों के परिजनों से हैं। मेरी प्रार्थनाएं घायलों के साथ हैं। भारत इस तरह के कायराना हमलों के आगे कभी नहीं झुकेगा।'' वेंकैया नायडू ने कहा, " अनंतनाग हमले के दोषियों को छोड़ने का सवाल ही नहीं। जानकारी के मुताबिक, अमरनाथ यात्रियों को ले जाने वाली बस ने इन्फॉर्म नहीं किया। उनके साथ सिक्युरिटी नहीं थी। ऐसा नहीं करना चाहिए। हमारा पड़ाेसी आतंक को प्रोत्साहित कर रहा है। ऐसे में सावधानी रखें। मारे गए लोगों के परिवार वालों के साथ मेरी सहानुभूति है। यात्रा ठीक ढंग से चलती रहे इसका पूरा प्रयास करेंगे। ये हमला इंसानियत के खिलाफ है। हम इसकी निंदा करते हैं। जम्मू-कश्मीर सरकार इसकी जांच कर रही है।" आतंकियों ने अनंतनाग के बंटिगू एरिया में पहले पुलिस पार्टी पर हमला किया। फिर वहां अमरनाथ यात्रियों से भरी एक बस पर फायरिंग की। बस बालटाल से मीर बाजार जा रही थी। उसका अमरनाथ श्राइन बोर्ड में रजिस्ट्रेशन नहीं था। बस में सवार योगेश ने बताया, "हमला रात 8:20 बजे हमला हो गया। फायरिंग के बीच ड्राइवर ने बस को तेजी से निकाली। इससे कई लोगों की जान बच गई। बस में 60 श्रद्धालु थे।" घटना के बाद एनएसए अजीत डोभाल ने पीएमओ पहुंचकर एक हाईलेवल मीटिंग की। राजनाथ सिंह ने सीएम और गवर्नर से बात कर जख्मी लोगों की मदद का भरोसा दिलाया है।मीटिंग के बाद सरकार ने ने फैसला किया कि अमरनाथ यात्रा जारी रहेगी। घटना के बाद राज्य में इंटरनेट सर्विस बंद कर दी गई है।  

Dakhal News

Dakhal News 11 July 2017


कान्हा और सतपुड़ा टाईगर रिजर्व

मध्यप्रदेश के कान्हा और सतपुड़ा टाईगर रिजर्व को तीसरी एशियन मिनिस्ट्रीयल कान्फ्रेंस दिल्ली में वन्यप्राणी प्रबंधन के लिये पुरस्कृत किया गया है। प्रदेश में पाँच नये वाइल्ड लाईफ रेस्क्यू स्क्वाड का गठन किया गया है। इन्हें मिलाकर अब प्रदेश में 15 वाइल्ड लाईफ रेस्क्यू स्क्वाड हो गये हैं। राजस्व क्षेत्रों में फसलों को नुकसान पहुँचाने वाले रोजड़ों को पकड़कर संरक्षित क्षेत्रों में छोड़ा गया है। यह जानकारी आज मंत्रालय में मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान की अध्यक्षता में सम्पन्न मध्यप्रदेश राज्य वन्यप्राणी बोर्ड की बैठक में दी गयी। बैठक में प्रदेश के राष्ट्रीय उद्यानों एवं अभयारण्यों के भीतर विकास कार्यों की अनुमति के प्रस्तावों को मंजूरी दी गयी। वन मंत्री डॉ. गौरीशंकर शेजवार, राज्य वन्यप्राणी बोर्ड के अशासकीय सदस्य, प्रधान मुख्य वनसंरक्षक श्री अनिमेष शुक्ला, प्रधान मुख्य वन संरक्षक (वन्य प्राणी) श्री जितेन्द्र अग्रवाल बैठक में उपस्थित थे। बैठक में मध्यप्रदेश के संरक्षित क्षेत्रों के अंतर्गत स्थित ग्रामों के ग्रामीणों के अधिकारों के विनिश्चयन के प्रस्ताव को स्वीकृति दी गयी। संरक्षित क्षेत्रों के ग्रामों के विस्थापन के बाद पुनर्वासित वन भूमि को राजस्व भूमि में परिवर्तन करने तथा संरक्षित क्षेत्रों से राजस्व ग्रामों के विस्थापन के बाद रिक्त राजस्व भूमि को वन भूमि में परिवर्तित करने के प्रस्ताव को भी मंजूरी दी गयी। बैठक में रातापानी अभयारण्य में बरखेड़ा से बुधनी तक प्रस्तावित तीसरी रेल लाईन निर्माण, सतपुड़ा टाईगर रिजर्व की सीमा के भीतर सोनतलाई-बागरातवा आंशिक दोहरीकरण बड़ी रेल लाईन परियोजना के लिये वन भूमि अर्जन, सोन घड़ियाल अभयारण्य में रीवा-सीधी-सिंगरौली नई रेल लाईन में सोन नदी पर भितरी-कुर्वाह पुल निर्माण, संजय टाईगर रिजर्व में कटनी-सिंगरौली रेलवे लाईन के दोहरीकरण और विद्युतीकरण की स्वीकृति दी गई। इसी तरह, संजय टाईगर रिजर्व में प्रधानमंत्री ग्राम सड़क विकास योजना में चार पहुँच मार्गों के निर्माण, खिवनी अभयारण्य में नंदाखेड़ा से ओंकारा मार्ग निर्माण, सोन चिड़िया अभयारण्य घाटी गाँव में ए.बी. रोड-बसोटा रोड से चराईडान मार्ग, सोन घड़ियाल अभयारण्य में बहर-कोरसर मार्ग में गोपद नदी पर उच्च-स्तरीय पुल, राष्ट्रीय चम्बल अभयारण्य में चंबल नदी पर सोने का गुरजा पर उच्च-स्तरीय पुल, सोन घड़ियाल अभयारण्य में सोन नदी पर नकझर से बमुरी सिंहावल मार्ग में उच्च-स्तरीय पुल, सतपुड़ा टाईगर रिजर्व में प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना में रामपुर से भतौड़ी मार्ग का उन्नयन, सतपुड़ा टाईगर रिजर्व में पिपरिया-पचमढ़ी से घाना मार्ग निर्माण और सोन चिड़िया अभयारण्य में ग्राम धुंआ से तकियापुरा बसौटा मार्ग पर मरम्मत और तीन पुलिया निर्माण की स्वीकृति के प्रस्ताव का बैठक में अनुमोदन किया गया। इसी तरह सोन घड़ियाल अभयारण्य में सोन नदी पर सीधी-सिंहावल 132 के.व्ही. विद्युत पारेषण लाईन, रीवा-सीधी 220 के.व्ही. पारेषण लाईन, सोन नदी एवं बनास नदी पर 765 के.व्ही. विद्युत लाईन की स्वीकृति का अनुमोदन किया गया। सतपुड़ा टाईगर रिजर्व में रक्षा बलों के लिये राज्य मार्ग 19 और 19ए के तरफ के किनारों में ऑप्टिकल फायबर केबल लाईन बिछाने तथा नरसिंहगढ़ अभयारण्य में रक्षा बलों के लिये राज्य मार्ग-12 के किनारे ऑप्टिकल फायबर केबल लाईन बिछाने की अनुमति का अनुमोदन किया गया। इसी तरह विभिन्न अभयारण्य में दस किलोमीटर की परिधि में उत्खनन के प्रस्तावों की अनुमति का अनुमोदन किया गया। माधव राष्ट्रीय उद्यान में मनीखेड़ा डेम से शिवपुरी तक पानी की पाइप लाइन सोन चिड़िया अभयारण्य में ग्राम धुंआ में खेल मैदान निर्माण, वन विहार राष्ट्रीय उद्यान की दस किलोमीटर की परिधि में ग्राम अकबरपुर कोलार दशहरा मैदान भोपाल में स्टेडियम निर्माण के प्रस्ताव की स्वीकृति का अनुमोदन किया गया। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बैठक में वनरक्षकों के जीवन पर बनायी गयी दो फिल्मों की सी.डी. का विमोचन किया।  

Dakhal News

Dakhal News 11 July 2017


डोकालाम

    सिक्कम में डोकालाम को लेकर जारी विवाद के बीच भारत के रुख ने चीन को और भड़का दिया है। इसके बाद चीनी मीडिया ने धमकी दी है कि तीसरे देश की सेना पाकिस्तान की तरफ से कश्मीर में घुस सकती है।खबरों के अनुसार एक चीनी थिंक टैंक ने चीनी अखबार के लेख में कहा है कि जिस तर्क से भारत डोकलाम में चीन को सड़क बनाने से रोक रहा है, उसी तर्क से कोई तीसरा देश भी कश्मीर में घुस सकता है। चीनी अखबार ग्लोबल टाइम्स में लिखे अपने लेख में चाइना वेस्ट नॉर्मल यूनिवर्सिटी में भारतीय अध्ययन केंद्र के निदेशक लांग झिंगचुन ने कहा कि यदि भूटान ने भारत से अपनी रक्षा का आग्रह किया भी था, तो यह उसकी सीमा तक होना चाहिए। विवादित इलाकों में भारतीय सेना को नहीं जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि इसी तर्क से यदि पाकिस्तान सरकार किसी तीसरे देश से अनुरोध करती है, तो वह अपनी सेना लेकर कश्मीर में घुस सकता है। ऐसा पहली बार है कि चीनी मीडिया में पाकिस्तान और कश्मीर को लेकर ऐसी बात कही गई है। लेख में कहा गया है कि भारतीय सेना ने डोकाला क्षेत्र में भूटान को मदद करने के नाम पर प्रवेश किया है। लेकिन सच्चाई है कि यहां भूटान को मदद के नाम पर घुसपैठ की गई है। चीन पाकिस्तान-अधिकृत कश्मीर (पीओके) के अंदर सड़कों और अन्य बुनियादी ढांचा परियोजनाओं का निर्माण कर रहा है। और उसकी महत्वाकांक्षी परियोजना सीपैक भी पीओके से होकर गुजर रही है जिस पर भारत ने आपत्ति भी जताई है। ग्लोबल टाइम्स में छपे अपने लेख के जरिए जिंगचुग ने सलाह देते हुए कहा कि भारत को समर्थन करने वाले पश्चिमी देशों की परवाह किए बिना बीजिंग डोकलाम विवाद को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर उठा सकता है क्योंकि पश्चिमी देशों को चीन के साथ कई व्यापार करने है।

Dakhal News

Dakhal News 10 July 2017


पाकिस्‍तान का दोहरा चरित्र

एक बार फिर पाकिस्‍तान का दोहरा चरित्र सामने आया है। एक तरफ जहां दावा करता है कि वह आतंकवाद के खिलाफ वैश्विक लड़ाई में अग्रिम पंक्ति में खड़ा है, वहीं दूसरी तरफ हिज्‍बुल आतंकी बुरहान वानी की पहली बरसी पर पाक प्रधानमंत्री से लेकर सेना प्रमुख द्वारा उसे 'नायक' के रूप में पेश किए जाने से पड़ोसी देश की असली मंशा एक बार जाहिर हो गई। आपको बता दें कि पिछले साल जम्‍मू-कश्‍मीर में सुरक्षा बलों के साथ हुए एक मुठभेड़ में बुरहान वानी मारा गया था। शनिवार को पहली बरसी थी। इस मौके पर बुरहान की सराहना करने को लेकर भारत ने पाकिस्‍तान की आलोचना की है। विदेश मंत्रालय के प्रवक्‍ता गोपाल बागले ने रविवार को कहा कि एक नहीं सभी द्वारा पाकिस्‍तान के आतंकवाद समर्थन और प्रायोजन की निंदा किए जाने की जरूरत है। उन्‍होंने एक के बाद एक ट्वीट कर पाकिस्‍तान पर निशाना साधा। गौरतलब है कि बुरहान की पहली बरसी पर पाक प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने उसे श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए कहा कि उसकी मौत से कश्मीर घाटी में आजादी के लिए संघर्ष और मजबूत हुआ है। वहीं सैन्‍य प्रमुख कमर जावेद बज्‍वा ने भी बुरहान की तारीफ में कोई कसर नहीं छोड़ी।

Dakhal News

Dakhal News 9 July 2017


जी-20 शिखर सम्मेलन

हैम्बर्ग में जी-20 शिखर सम्मेलन में पेरिस समझौते पर अमेरिका अलग-थलग पड़ गया। जबकि भारत और अन्य 18 देशों ने ग्लोबल वार्मिंग से निपटने के इस समझौते का समर्थन किया है। जी-20 घोषणा में साफ तौर पर गया है कि समझौते से पलटा नहीं जा सकता है। अमेरिका ने जून में समझौते से अलग होने की घोषणा की है। सम्मेलन के आयोजक जर्मनी की चांसलर एंजेला मर्केल ने कहा कि पेरिस समझौते पर अमेरिका अपने रुख पर कायम है लेकिन अन्य देशों ने इसका जोरदार समर्थन किया है। जी-20 घोषणा में पेरिस समझौते को लेकर सर्वसम्मति नहीं बन सकी। अमेरिकी विरोध और अन्य देशों के रुख का स्पष्ट रूप से उल्लेख किया गया है। उन्होंने कहा कि अमेरिका को छोड़कर जी-20 के सभी सदस्य देश इससे सहमत हैं कि पेरिस समझौता अपरिवर्तनीय है। व्यापार के मुद्दे पर भी नेताओं ने संरक्षणवाद और सभी तरह के अनुचित व्यापार तरीकों के खिलाफ प्रतिबद्धता जताई। इस संबंध में वैधानिक व्यापार रक्षा उपायों की भूमिका को मान्यता देने पर सहमति व्यक्त की। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के सत्ता संभालने के बाद 'अमेरिका फर्स्ट' नीति चलते व्यापार नीति काफी विवादपूर्ण हो गई है।

Dakhal News

Dakhal News 9 July 2017


जी-20 शिखर सम्मेलन

हैम्बर्ग में शुरू हुए जी-20 शिखर सम्मेलन में पीएम मोदी ने शुक्रवार को विश्व नेताओं के सामने आतंकवाद, इसकी पनाहगहों और फंडिंग के खिलाफ एक बार फिर हुंकार भरी। पीएम मोदी ने विश्व नेताओं के सामने इसे खत्म करने का 10 सूत्री प्लान पेश किया। इसके बाद सभी सदस्य देशों के नेताओं ने साझा बयान में दुनियाभर में हुए आतंकी हमलों की निंदा करने के साथ ही इसके खात्में का संकल्प लिया। सभी नेताओं ने बयान में कहा कि आतंकवाद विश्व के लिए खतरा है और इसके खिलाफ लड़ने के साथ ही आंतक की पनाहगाहों को नष्ट किया जाना चाहिए। इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आतंक और इसका समर्थन करने वालों पर कड़ा प्रहार करते हुए इससे निपटने के लिए 10 सूत्री प्लान समाने रखा। उन्होंने कहा कि मध्य पूर्व में दाएश, अलकायदा, दक्षिण एशिया में लश्कर-ए-तैयबा, जैश-ए-मोहम्मद, हक्कानी नेटवर्क और नाइजीरिया में बोको हरम आज के वक्त में आतंकवाद के कुछ नाम हैं। लेकिन इन सब की मूलभूत विचारधार केवत नफरत और नरसंहार है। यह साइबर स्पेस का उपयोग युवा पीढ़ी को भ्रमित कर अपने संगठनों में भर्ती के लिए कर रहे हैं। मोदी ने आतंकवाद को सबसे बड़ी चुनौती करार देते हुए जर्मन चांसलर एंजेला मार्केल की तारफ की। मोदी प्लान  आतंकवाद का समर्थन करने वाले देशों के खिलाफ निवारक कार्रवाई अनिवार्य है। ऐसे देशों के अधिकारियों का जी-20 सम्मेलन में प्रवेश पर प्रतिबंध जरूरी। संदिग्ध आतंकवादियों की राष्ट्रीय सूची का जी-20 देशों के बीच आदान-प्रदान और नामांकित आतंकवादियों और उनके समर्थकों के खिलाफ साझी कार्रवाई अनिवार्य आतंकवादियों से संबंधित प्रभावकारी सहयोग के लिए कानूनी प्रक्रिया जैसे कि प्रत्यर्पण को सरल और ज्यादा तेज करना।  अंतर्राष्ट्रीय आतंकवाद पर व्यापक सम्मेलन को शीघ्र अपनाया जाना। यूनाइटेड नेशन सिक्यॉरिटी काउंसिल रेजॉल्यूशन तथा अन्य अंतरराष्ट्रीय प्रक्रियाओं को प्रभावी ढंग से लागू करना। डी रेडिकलाइजेशन के खिलाफ कार्यक्रमों पर जी-20 द्वारा साझा प्रयास और सबसे अच्छी प्रयासों का लेन-देन।  एफएटीएफ (फाइनैशल ऐक्शन टास्क फोर्स) तथा अन्य प्रक्रियाओं द्वारा आतंकियों को फंडिंग करने वाले सोर्स और माध्यमों पर प्रभावशाली प्रतिबंध। एफएटीएफ की तरह ही हथियारों पर रोक के लिए वेपंज ऐंड एक्प्लोसिव ऐक्शन टास्क फोर्स (WEATF) का गठन, ताकि आतंकवादियों तक पहुंचने वाले हथियारों के स्रोतों को बंद किया जा सके। जी-20 देशों के बीच आतंकवादी गतिविधियों पर केंद्रित साइबर सिक्यॉरिटी क्षेत्र में ठोस सहयोग। जी-20 में नैशनल सिक्यॉरिटी अडवाइजर ऑन काउंटर टेररिज्म के एक तंत्र का गठन।  

Dakhal News

Dakhal News 8 July 2017


ओमवैली

  मध्य प्रदेश के  ऐतिहासिक भोजपुर मंदिर के बारे में तो आपने सुना ही होगा, लेकिन अब ये मंदिर वैज्ञानिक महत्व के लिए भी जाना जाएगा। जी हां, भोजपुर और मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल के छिपे हुए प्राचीन रहस्य अब सामने आ रहे हैं। वैज्ञानिकों की मानें तो यहां हजारों साल पुरानी एक ओमवैली है। मॉनसून के समय ये ओमवैली पूरी तरह से सामने आ जाती है। मौसम विभाग के अनुसार एक या दो दिनों मॉनसून राजधानी भोपाल को तरबतर कर देगा। मॉनसून के पहुंचते ही इस ओम वैली का आकार पूरी तरह से निकल कर सामने आ जाता है। यहां पर मौजूद हरियाली के बढ़ने और जलाशय भरने के बाद ओमवैली की तस्वीरें पूरी तरह से साफ नजर आती हैं।  सैटेलाइट तस्वीरों में इस बात की पुष्टि भी होती है। इस ओम के मध्य में स्थित है प्राचीन भोजपुर मंदिर, और इसके सिरे पर बसा है भोपाल शहर। आपको ये भी बता दें कि भूगोल विज्ञानियों का ये मानना है कि भोपाल शहर स्वास्तिक के आकार में बसाया था।  मप्र विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी परिषद के वैज्ञानिक ठीक उसी वक्त ओम वैली का ग्राउंड डाटा लेते हैं, जिस वक्त सैटेलाइट रिसोर्स सेट - 2 भोपाल शहर के ऊपर से गुजरता है। इस दौरान भोपाल, भोजपुर और ओमवैली की संरचना से जुड़ा हुआ डाटा लिया जाता है। परिषद के मुताबिक हर 24 दिनों के अंतराल पर ये सेटेलाइट भोपाल शहर के ऊपर से गुजरता है। इस सैटेलाइट के जरिए गेहूं की खेती वाली जमीन की तस्वीरें ली जाती हैं।  सैटेलाइट तस्वीरों में दिखाई दे रहा ये बड़ा सा ओम दरअसल सदियों पुरानी ओम वैली है। आसमान से दिखाई देने वाली ॐ वैली के ठीक मध्य में 1000 वर्ष प्राचीन भोजपुर का शिवमंदिर स्थापित है। मध्यप्रदेश में ओमकारेश्वर ज्योर्तिलिंग के पास भी ऐसी ही प्राकृतिक ओमवैली दूर आसमान से दिखाई देती है। वैज्ञानिकों की नजर में यह ओम वैली है। इसके सैटेलाइट डाटा केलिबरेशन और वैलिडेशन का काम मप्र विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी परिषद को मिला है। परिषद के वैज्ञानिक डॉ. जीडी बैरागी ने बताया, डाटा केलिबरेशन और वैलिडेशन के लिए हमें ठीक उस वक्त ओम वैली का ग्राउंड डाटा लेना होता है, जिस समय सैटेलाइट (रिसोर्स सेट-2) शहर के ऊपर से गुजरे। यह सैटेलाइट 24 दिनों के अंतराल पर भोपाल के ऊपर से गुजरता है। इससे गेहूं की खेती वाली जमीन की तस्वीरें ली जाती हैं। परिषद की ताजा सैटेलाइट इमेज से ‘ॐ’ वैली के आसपास पुराने भोपाल की बसाहट और एकदम केंद्र में भोजपुर के मंदिर की स्थिति स्पष्ट हुई है। पुरातत्वविदों के पास राजा भोज की विद्वता के तर्क हैं। उनके मुताबिक लगभग 1000 साल पहले ही भोपाल को एक स्मार्ट सिटी बनाने के लिए इसे ज्यामितीय तरीके से बसाया गया था, इसे बसाने में राजा भोज की विद्वता से ही सारी चीजें संभव हो पाईं थीं। स्वास्तिक के आकार में बसा है भोपाल इतिहासकारों का मानना है कि भोज एक राजा ही नहीं कई विषयों के विद्वान थे। भाषा, नाटक, वास्तु, व्याकरण समेत अनेक विषयों पर 60 से अधिक किताबें लिखी। वास्तु पर लिखी समरांगण सूत्रधार के आधार पर ही भोपाल शहर बसाया गया था। गूगल मैप से वह डिजाइन आज भी वैसा ही देखा जा सकता है। भोज के समय ग्राउंड मैपिंग कैसे हुई यह रिसर्च का विषय आर्कियोलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया के आर्कियोलॉजिस्ट्स का मानना है कि ओम की संरचना और शिव मंदिर का रिश्ता पुराना है। देश में जहां कहीं भी शिव मंदिर बने हैं, उनके आसपास के ओम की संरचना जरूरी होती है। इसका सबसे नजदीकी उदाहरण है ओंकारेश्वर का शिव मंदिर। परमार राजा भोज के समय में ग्राउंड मैपिंग किस तरह से होती थी इसके अभी तक कोई लिखित साक्ष्य तो नहीं है, लेकिन यह रिसर्च का रोचक विषय जरूर है। सैटेलाइट इमेज से यह बहुत स्पष्ट है कि भोज ने जो शिव मंदिर बनवाया, वह इस ओम की आकृति के बीचोबीच स्थापित है।

Dakhal News

Dakhal News 7 July 2017


पवन चामलिंग

भारत और चीन के बीच सिक्किम में डोकालाम सीमा को लेकर जारी तनाव के बीच गंगटोक से सिक्किम के मुख्यमंत्री पवन चामलिंग का बयान आया है। उन्होंने कहा है कि भारत में सिक्किम का विलय अपने ही देश के राज्य पश्चिम बंगाल व चीन के बीच पिसने के लिए नहीं हुआ था। उन्होंने कहा कि नेशनल हाइवे बंद कर सिक्किम के वाहनों पर हमले को लेकर वह सुप्रीम कोर्ट जाएंगे। मुख्यमंत्री चिसोपानी में सिक्किम इंस्टीट्यूट आफ साइंस एंड टेक्नोलाजी (इंजिनियरिंग कालेज) के शिलान्यास समारोह को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि एक ओर पश्चिम बंगाल में उनके नागरिकों पर हमला तो दूसरी ओर सीमा पर चीन के बढ़ते दबाव से सिक्किम सैंडविच बनकर रह गया है। पवन चामलिंग ने कहा कि नाथुला दर्रे पर भारत-चीन के बीच तनाव जारी है, जिससे सीमावर्ती क्षेत्र अशात हो गया है। उधर पश्चिम बंगाल राज्य में सिक्किम के वाहनों व यात्रियों पर हमले जारी हैं। जबकि सिक्किम के नागरिक पूरी तरह भारतीय हैं। पश्चिम बंगाल में सिक्किम के नागरिकों को भारतीय होने का अहसास को समाप्त करने का कुत्सित प्रयास किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि वह स्थानीय लोगों की समस्याओं को लेकर लगातार केंद्र के संपर्क में हैं। उन्होंने खाद्यान्न संकट न उत्पन्न होने के प्रति लोगों को आश्वस्त किया। उक्त अवसर पर स्थानीय विधायक एवं विधानसभा अध्यक्ष केएन राई, मानव संसाधन विकास मंत्री आरबी सुब्बा, सूचना एवं जनसंपर्क मंत्री एके घतानी आदि उपस्थित थे।  

Dakhal News

Dakhal News 6 July 2017


चीनी मीडिया

  चीनी मीडिया ने नई दिल्‍ली को चेतावनी दी है कि यदि सीमा विवाद में भारत पीछे नहीं हटता है, तो बीजिंग सिक्किम की स्वतंत्रता का समर्थन करना शुरू कर देगा। इससे चीन की बैचेनी साफ नजर आ रही है। चीन इन दिनों हर तरफ से भारत पर दबाव बना रहा है। वो किसी भी तरह भारत को पीछे हटने के लिए मजबूर करना चाहता है। लेकिन भारत ने भी अपना रुख साफ कर दिया है कि वो किसी भी कीमत पर पीछे हटने वाला नहीं है। कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ चाइना के अखबार 'द ग्लोबल टाइम्स' में छपे संपादकीय में लिखा है कि सिक्किम की 'आजादी' का समर्थन नई दिल्ली से निपटने के लिए एक शक्तिशाली कार्ड होगा। संपादकीय ने दृढ़ता से इस बात की वकालत की गई है कि बीजिंग को सिक्किम के मुद्दे पर अपने रुख पर पुनर्विचार करना चाहिए। लेख के मुताबिक, भारत को सीमा विवाद उकसाने का परिणाम भुगतना होगा। इसके अलावा, चीन को नई दिल्ली के उस क्षेत्रीय वर्चस्व की कोशिश पर पूर्णविराम लगाने की जरूरत है जोकि लगातार बढ़ते हुए अपने चरम पर पहुंच गया है। गौरतलब है कि पिछले कुछ महीनों में भारत और चीन के रिश्‍ते काफी खराब हुए हैं। चीन-पाकिस्‍तान इकोनॉमी कॉरिडोर के विरोध को लेकर वह खार खाया हुआ है। वहीं भारत-अमेरिकी बढ़ती नजदीकियां भी उसे सुहा नहीं रही हैं। ताजा विवाद के तहत चीन ने भारतीय जवानों पर सिक्किम में सीमा पार करने का आरोप लगाया है और उन्‍हें भारत द्वारा वापस बुलाए जाने की मांग कर रहा है।

Dakhal News

Dakhal News 6 July 2017


rukmani

  सिक्किम से लगी सीमा पर जारी तनातनी के बीच जहां चीन हिंद महासागर क्षेत्र में अपने नौसेना की मौजूदगी बढ़ाते जा रहा है, वहीं भारतीय नौसेना भी पूरी तरह से सतर्क है। वह GSAT-7 के जरिये आसमान से 'ड्रैगन' पर नजर रख रहा है। यह नौसेना द्वारा खुद को समर्पित सैन्य सेटेलाइट है, जिसे 29 सितंबर 2013 को लॉन्च किया गया था। इस सेटेलाइट की सबसे दिलचस्प बात इसके नाम से जुड़ी है, जो रुक्मिणी है। टाइम्स ऑफ इंडिया के अनुसार, 2,625 किलोग्राम वजन का यह सेटेलाइट हिंद महासागर क्षेत्र में नजर रखने में नौसेना की मदद कर रहा है। यह एक मल्‍टी-बैंड कम्‍युनिकेशन-कम सर्विलान्‍स सेटेलाइट है, जिसका 36, 000 किमी की ऊंचाई से संचालन हो रहा है। यह नौसेना युद्धपोतों, पनडुब्बियों और विमानों को रियल-टाइम जानकारी मुहैया कराता है। वहीं समुद्र तट किनारे स्थित संचालन केंद्रों की मदद से यह सेटेलाइट ना केवल नौसेना की अरब सागर और बंगाल की खाड़ी पर नजर रखने में मदद कर रहा है बल्कि फारस की खाड़ी से लेकर मलक्का स्ट्रेट तक उनकी संचार और निगरानी क्षमताओं में वृद्धि करने में भी कारगर साबित हो रहा है, यह हिंद महासागर क्षेत्र के लगभग 70 फीसदी हिस्‍से के बराबर हैं। इन दिनों सिक्किम सीमा विवाद को लेकर भारत और चीन में तनाव बढ़ गया है। चीन ने भारतीय सुरक्षा बलों पर सीमा पार का उल्‍लंघन करने का आरोप लगाया है और उन्‍हें भारत वापस बुलाए जाने की मांग करते हुए चीन ने यह तक कह दिया है कि वह युद्ध को भी तैयार है। वहीं चीन ने हिंद महासागर में भी अपनी मौजूदगी बढ़ा दी है। हाल ही में कम से कम 14 चीनी नौसेना पोतों को भारतीय समुद्री क्षेत्र में घूमते देखा गया। इनमें आधुनिक लुआंग-3 और कुनमिंग क्लास स्टील्थ डेस्ट्रॉयर्स भी शामिल हैं।

Dakhal News

Dakhal News 5 July 2017


नेहा - GST पर पीएचडी

GST( गुड्स एन्ड सर्विस टैक्स) को लेकर आज देश में भले ही कोहराम मचा हो लेकिन मध्य प्रदेश के हरदा की रहने वाली नेहा व्यास उपाध्याय ने 4 साल पहले ही इस पर पीएचडी कर चुकी हैं ! मध्य प्रदेश में वाणिज्य कर विभाग में डायरेक्टर रह चुके अपने पापा नर्मदा प्रसाद उपाध्याय को अपना आदर्श मानने वाली नेहा उपाध्याय ने वर्ष 2013 में मध्य प्रदेश के खंडवा के जी डी सी के प्रोफेसर प्रताप राव कदम के गाइडेंस में यह शोध कार्य किया ! इसमें उन्होंने कंपनी, जनता और रोजगार से जुड़े नफा-नुकसान के बारे में जानकारी जुटाई थी ! प्रोफेसर प्रताप राव कदम बताते हैं की जीएसटी पर यह प्रदेश की संभवत पहली पीएचडी है प्रोफेसर कदम के मुताबिक जीएसटी पर हुई यह पीएचडी मध्यप्रदेश की पहली पीएचडी इसलिए भी है क्योंकि 2009 -10 में जीएसटी पर केन्द्र सरकार को विचार आया जबकि पीएचडी 2013 में पूर्ण हो चुकी थी क्योंकि मैं भी मध्यप्रदेश की इस समिति के सदस्यों के संपर्क में रहा उन्होंने बताया कि यह पीएचडी सौ प्रतिशत मौलिक होने के कारण ही नेहा का चयन आई आई एम अहमदाबाद में फैकल्टी के रूप में हुआ था !  पीएचडी करने वाली नेहा फिलहाल अहमदाबाद में गुजरात यूनिवर्सिटी में प्रोफेसर के रूप में कार्यरत हैं ! प्रोफैसर कदम बताते हैं कि 6 जुलाई 2009 में यूपीए सरकार में वित्त मंत्री रहे प्रणब मुखर्जी ने जीएसटी को लेकर समिति बनाई थी इसी दौरान मध्यप्रदेश शासन ने भी एक कमेटी बनाई थी इसमें मध्य प्रदेश में वाणिज्य कर ट्रिब्यूनल में सदस्य के रूप में नेहा के पापा नर्मदा प्रसाद उपाध्याय शामिल थे ! नेहा ने डी ए वी वी से जीएसटी विषय पर ही पीएचडी करने का फैसला लिया ! तथा सेन्टर चुना आर्ट्स एंड कॉमर्स कॉलेज इंदौर ! करीब 2 साल में 344 पेजों की थीसिस पूरी हुई ! जीएसटी पर हुए शोध में नेहा ने 4 साल पहले ही बता दिया था कि यदि जीएसटी लागू होता है तो कंपनी को क्या नफा नुकसान होगा ,रोजगार कितने बढ़ेंगे ,और विदेशी इन्वेस्टमेंट कितना बढ़ेगा !  प्रोफेसर कदम ने बताया कि शोध के मुताबिक 1954 में सबसे पहले फ्रांस में जीएसटी लागू हुई इसके बाद ताइवान, डेनमार्क ,कनाडा सहित विश्व के 150 देशों में यह लागू हो चुका है ! इधर नेहा अपनी इस उपलब्धि का श्रेय मध्य प्रदेश में वाणिज्य कर विभाग के डायरेक्टर रहे अपने पापा नर्मदा प्रसाद उपाध्याय को देती हैं !उन्होंने बताया कि पापा से टैक्सेशन के विषयों पर वह हमेशा सवाल जवाब करा करती थी तभी उनके दिमाग में आया कि इसी पेचीदा विषय पर शोध कार्य करना चाहिए नेहा बताती हैं कि खंडवा के प्रोफेसर डाँ प्रताप राव कदम सर के कुशल मार्गदर्शन एवं मेहनत से उनका यह शोध कार्य पूर्ण हो पाया है ! तीन भाई बहनों में नेहा की बड़ी बहन नम्रता भी पूना में प्रोफेसर है जबकि नेहा के छोटे भाई नमन उपाध्याय हाल ही में 2016 की UPSC से मेरिट लिस्ट में सेलेक्ट होकर भारतीय विदेश सेवा(IFS) में अधिकारी बने हैं !

Dakhal News

Dakhal News 5 July 2017


मोसुल

इराक में आतंकी संगठन आईएस की राजधानी मोसुल को आजाद कराने के करीब फौज को सोमवार को बड़ा झटका लगा। आईएस की दो महिला आत्मघाती हमलावरों ने अलग-अलग घटनाओं में खुद को उड़ाकर 15 लोगों की हत्या कर दी। घटनाओं में दर्जनों घायल हुए हैं। पहले हमले में एक महिला आत्मघाती ने युद्धस्थल से दूर जा रहे लोगों की भीड़ में छिपकर हमला किया। इस हमले में एक सैनिक की मौत हो गई जबकि कई लोग घायल हुए हैं। दूसरा हमला आईएस के प्रभाव वाले क्षेत्रों से बाहर आए लोगों के अनबार प्रांत स्थित शिविर में हुआ। वहां पर महिलाओं के कपड़े पहने एक हमलावर ने भीड़ के बीच खुद को उड़ा लिया। यहां की घटना में 14 लोग मारे गए हैं जबकि बड़ी संख्या में घायल हुए हैं। सैन्य सूत्रों के अनुसार पुराने मोसुल शहर में आईएस आतंकियों की संख्या तेजी से कम हो रही है और उनका कब्जे वाला इलाका सिमट रहा है। आतंकी आमने-सामने की लड़ाई में मारे जा रहे हैं या फिर ठिकाना छोड़कर भाग रहे हैं।

Dakhal News

Dakhal News 4 July 2017


 चीन की चेतावनी

    बीजिंग से खबर है कि सिक्किम सेक्टर में सीमा विवाद के बीच चीनी विशेषज्ञों ने सोमवार को आगाह किया कि सीमा विवाद हल न हुआ तो युद्ध भी हो सकता है। विशेषज्ञों ने कहा कि चीन पूरी प्रतिबद्धता से अपनी संप्रभुता की रक्षा करेगा, फिर चाहे युद्ध की नौबत क्यों न आ पड़े। चीन के सरकारी अखबार ग्लोबल टाइम्स ने चीनी विशेषज्ञों के हवाले से यह बात कही। डोकलाम क्षेत्र में तीन हफ्तों से दोनों देशों के बीच गतिरोध है। सिक्किम से सटे चीन की सीमा पर तनाव के बीच भारत ने डोक ला इलाके में सैनिकों की तैनाती बढ़ाई है। 1962 के बाद पहली बार ऐसा हो रहा है जब किसी इलाके में भारत और चीन की सेनाओं के बीच इतने लंबे वक्त तक गतिरोध बना हुआ है। एक महीने से डोका ला में दोनों देशों के सैनिक आमने-सामने हैं। डोका ला उस क्षेत्र का भारतीय नाम है, जिसे भूटान डोकलाम कहता है जबकि चीन इसे अपने डोंगलांग क्षेत्र का हिस्सा मानता है। सूत्रों के मुताबिक चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) द्वारा भारतीय सेना के 2 बंकरों को नष्ट करने की आक्रामक गतिविधि के बाद भारत ने "गैर-आक्रामक मुद्रा" में और ज्यादा जवानों को भेजा है।

Dakhal News

Dakhal News 4 July 2017


जम्मू-कश्मीर

  जम्मू-कश्मीर के पुलवामा के बामनूह में पिछले 24 घंटे से सेना और आतंकियों के बीच जारी मुठभेड़ अभी खत्म नहीं हुई है। सेना ने अब तक यहां छिपे तीन आतंकियों को मार गिराया है। खबरों के अनुसार सुरक्षाबलों ने उन घरों को धमाके से उड़ा दिया है जिनमें आतंकी छिपे हुए थे। इससे पहले बड़ी सफलता हासिल करते हुए सेना ने सोमवार को ही दो आतंकियों को मार गिराया था जिनमें से एक की पहचान किफायत के रूप में हुई है। बता दें कि सोमवार सुबह सेना को पुलवामा के बमनुह में आतंकियों की मौजूदगी की सूचना मिली थी जिसके बाद सेना ने इलाके को घेर लिया था। दोनों तरफ से हुई फायरिंग के बाद जवानों ने दो आतंकियों को मार गिराया था और लगने लगा था कि ऑपरेशन जल्द खत्म हो जाएगा लेकिन ऐसा हुआ नहीं। आखिरकार लगातार 24 घंटे तक चले ऑपरेशन के बाद तीसरे आतंकी को भी मार गिराया गया है।

Dakhal News

Dakhal News 4 July 2017


राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप

नॉर्थ कोरिया द्वारा लगातार किए जा रहे मिसाइल परीक्षणों से नाराज अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने उसे चेतावनी दी है। खबरों के अनुसा ट्रंप ने कहा है कि सब्र का बांध टूट गया है। वहीं दूसरी तरफ दक्षिण कोरिया में उनके समकक्ष मून जाए-इन ने एक बयान में कहा है कि पड़ोसी देश की धमकियों और उकसावे वाली नीतियों का कड़ा जवाब दिया जाएगा। साथ ही मून ने बताया कि अमेरिकी राष्‍ट्रपति ने सियोल आने का निमंत्रण स्‍वीकार कर लिया है। व्हाइट हाउस के रोज गार्डन में ट्रम्प के साथ खड़े मून ने संवाददाताओं से कहा कि उत्तर कोरिया की समस्या का पूरी तरह से हल निकलना चाहिए और वहां की सरकार से मुद्दे के हल के लिए वार्ता की मेज पर लौटने की अपील की। उन्‍होंने बताया कि अमेरिकी राष्‍ट्रपति ट्रम्प ने इस वर्ष के अंत में सियोल का दौरा करने का प्रस्ताव स्वीकार कर लिया है। हालांकि उन्‍होंने इस दौरान यह नहीं बताया कि दक्षिण कोरिया और अमेरिका ने नॉर्थ कोरिया को सबक सिखाने के लिए क्‍या रणनीति बनाई है। उधर ट्रम्प ने कहा, अमेरिका दूसरी क्षेत्रीय ताकतों एवं सभी जिम्मेदार देशों से प्रतिबंधों को लागू करने के लिए साथ आने का आह्वान करता है और मांग करता है कि उत्तर कोरियाई सरकार तेजी से एक बेहतर रास्ते का चयन करे तथा लंबे समय से त्रस्त अपने लोगों के लिए एक अलग भविष्य चुने। अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा कि उत्तर कोरिया को लेकर जारी रणनीतिक सब्र का युग नाकाम रहा और मुखरता से कहें तो सब्र खत्म हो चुका है। ट्रम्‍प ने कहा, 'हमें लापरवाह और क्रूर उत्तरी कोरिया से लगातार धमकियां मिल रही हैं। वहां लगातार परमाणु हथियार और बैलिस्टिक मिसाइल कार्यक्रमों को एक निश्चित प्रतिक्रिया की आवश्यकता होती है। लेकिन उत्तर कोरिया के तानाशाह को अपने पड़ोसियों और अपने देशवासियों की सुरक्षा से कोई लेनादेना नहीं है। उनमें मानव जीवन के लिए कोई सम्मान नहीं है।' ट्रम्प को उम्‍मीद थी कि चीन, उत्तर कोरिया को समझाने और दबाव बनाने में सफल रहेगा, लेकिन वो उम्मीद भी अब लगभग खत्‍म हो गई है। ऐसे में अमेरिका अब नॉर्थ कोरिया के खिलाफ कड़े कदम उठाने के लिए मजबूर हो गया है।

Dakhal News

Dakhal News 1 July 2017


arun jaitley

रक्षा मंत्री अरूण जेटली ने सिक्किम क्षेत्र में सीमा पर बढ़े तनाव को लेकर चीन की धमकी का करारा जवाब देते हुए आज कहा कि 1962 और 1917 की स्थिति में बहुत फर्क है। वस्तु एवं सेवा कर(जीएसटी) पर एक टेलीविजन चैनल के कार्यक्रम में जेटली ने कहा कि भूटान ने बयान दिया है कि चीन जहां सड़क का निर्माण कर रहा है वह उसकी भूमि है। भूटान और भारत के बीच सुरक्षा संबंध है इसलिए भारतीय सेना उस जगह पर है। चीन के रक्षा मंत्रालय की इस टिप्पणी पर कि भारत को इतिहास से सबक लेना चाहिए, जेटली ने कहा कि 1962 के हालात अलग थे और आज की स्थिति अलग है। उन्होंने कहा, हमें इस बात को समझना होगा। 1962 और 2017 में बहुत फर्क है। चीनी रक्षा मंत्रालय का बयान सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत की इस टिप्पणी पर आया था कि भारतीय सेना चीन, पाकिस्तान और आतंकरिक खतरे के ‘ढाई मोर्चे’ से निपटने के लिए तैयार है। चीन के रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता ने धमकी भरे लहजे में कहा था, भारतीय सेना प्रमुख की ऐसी टिप्पणी बेहद गैरजिम्मेदार है। हमें उम्मीद है कि भारतीय सेना का यह व्यक्ति इतिहास से सीख लेकर ऐसे उकसाने वाली टिप्पणी नहीं करेगा। इस बीच भारतीय विदेश मंत्रालय ने चीन के वक्तव्य पर प्रतिक्रिया करते हुए आज कहा कि भारत सीमा पर जारी चीन की गतिविधियों से बहुत चिंतित है और उसने चीन सरकार को अवगत कराया है कि डोकलाम क्षेत्र में वह जो निर्माण कर रहा है उससे सामरिक परिस्थितियों में बदलाव आयेगा और उसका भारत की सुरक्षा पर गहरा असर पड़ेगा। इस संदर्भ में भारतीय अधिकारियों ने चीन को याद दिलाया है कि दोनों देशों की सरकारों ने 2012 में यह समझौता हुआ था कि सीमा पर किसी तीसरे देश के सीमावर्ती क्षेत्रों के बारे में अंतिम फैसला संबंधित देश से बातचीत करके ही लिया जायेगा। अत: ऐसे त्रिपक्षीय सीमा क्षेत्र में एकतरफा ढंग से फैसले लेना उस समझौते का सीधा उल्लंघन है।  

Dakhal News

Dakhal News 30 June 2017


आतंकी हाफिज सईद

  पीएम मोदी की अमेरिका यात्रा के दौरान मोदी और राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप द्वारा पाकिस्तान को अपनी जमीन पर आतंक को काबू करने के लिए की मांग की गई थी। इसके बाद अब पाकिस्तान ने आतंकी हाफिज सईद से संगठन पर बैन लगा दिया है। खबरों के अनुसार पाक ने हाफिज के संगठन जमात-उद-दावा के प्रतिनिधि ग्रुप का नाम निषिद्ध संगठनों की सूची में शामिल कर लिया है। पाकिस्तानी नेशनल काउंटर टेररिज्म अथॉरिटी की वेबसाइट के मुताबिक, 8 जून से तहरीक-ए-आजादी जम्मू-कश्मीर (टीएजेके) पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। वहीं जमात-उद-दावा भी पाक सरकार की निगरानी में है। बता दें कि अमेरिकी सरकार के दबाव में जनवरी के अंत में पाकिस्तान ने सईद को 'नजरबंद' कर दिया था उनके संगठन को 'अंडर वॉच' सूची में रखा है। फरवरी में प्रतिंबध के डर की वजह से जमात-उद-दावा का नाम बदल कर तहरीक-ए-आजादी जम्मू-कश्मीर (टीएजेके) कर दिया गया। ऐसा तब हुए जब अमेरिका के दबाव में आतंकी हाफिज सईद को पंजाब सरकार द्वारा नजरबंद किया गया। दरअसल, हाल ही में अमेरिकी राष्‍ट्रपति ट्रंप ने फिर इस्लामाबाद में आतंकियों के खिलाफ कड़े कदम उठाने के संकेत देते हुए। अमेरिका, पाकिस्तान में स्थित आतंकी ठिकानों पर सख्त कार्रवाई करने की तैयारी में है। समाचार एजेंसी रॉयटर्स ने नाम न बताने की शर्त पर अमेरिकी अधिकारियों ने बताया कि ट्रंप प्रशासन पाक स्थित आतंकी अड्डों पर अमेरिकी ड्रोन हमलों के दायरे को बढ़ाने के साथ ही पाकिस्तान को दी जाने वाली मदद को रोकने और एक गैर नाटो सदस्य के रूप में उसके दर्जे को कम करने जैसे विकल्पों पर चर्चा कर रहा है। शायद इसीलिए एक बार फिर पाकिस्‍तान ये दिखाने की कोशिश कर रहा है कि वो आतंकियों के खिलाफ है। पाक से आतंकियों को बाहर करने में जुटा हुआ है। हालांकि अब ये बात किसी से छिपी नहीं है कि पाक आतंकियों की सुरक्षित पनाहगाह बन गया है।    

Dakhal News

Dakhal News 30 June 2017


tarun sagar

  देशभर में अपने कड़वे प्रवचनों के लिए विख्यात जैन मुनि तरुण सागर का कहना है कि पाकिस्तान में जितने आतंकवादी नहीं है, उससे ज्यादा हमारे देश में गद्दार है। उन्हाेंने सीकर के पिपराली के वैदिक आश्रम में संवाददाताओं से बातचीत करते हुए कहा कि देश में रहते है, देश का खाते है और पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाता है, वो गद्दार नहीं तो और क्या है। आतंकवादी शेर की तरह सामने से वार नहीं करता है बल्कि वह भेड़िये की तरह पीछे से हमला करता है। जैन मुनि ने देश में व्याप्त विसंगतियों पर चोट करते हुए कहा कि लोग कहते है भारत गरीब देश है, जबकि मेरा मानना है कि देश में गरीबी नहीं गैर बराबरी है। उन्होंने अपने कड़वे प्रवचनों के सवाल पर कहा कि कड़वाहट उनके प्रवचनों में नहीं, समाज और लोगों के आपसी संबंधाें में घुल गई है। इसलिए लाेगाें काे उनके प्रवचन कड़वे लगते है।  

Dakhal News

Dakhal News 30 June 2017


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप

  अमेरिका दौरे पर गए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के बीच गर्मजोशी नजर आई। पीएम मोदी जब व्हाइट हाउस में थे तब कई ऐसी चीजें हुईं जो कम ही लोग जानते थे। लेकिन इनमें से एक चीज की तस्वीर खुद राष्ट्रपति ट्रंप ने शेयर की है। इस तस्वीर में ट्रंप पीएम मोदी को अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति अब्राहम लिंकन का बेडरूम देखते नजर आ रहे हैं। इस दौरान ट्रंप ने मोदी के अब्राहम लिंकन का एक पोस्टल स्टैंप भी दिया था। ट्रंप द्वारा जारी तस्वीर में मोदी के अलावा मेलानिय ट्रंप और भारतीय डेलिगेशन नजर आ रहा है। बता दें कि अब्राहम लिंकन अमेरिका के 16वें राष्ट्रपति थे और उन्होंने अमेरिका को उसके सबसे बड़े संकट - गृहयुद्ध (अमेरिकी गृहयुद्ध) से पार लगाया था। अमेरिका में दास प्रथा के अंत का श्रेय लिंकन को ही जाता है।

Dakhal News

Dakhal News 29 June 2017


आर्मी चीफ बिपिन रावत

अमेरिकी द्वारा हिज्बूल सरगना सैयद सलाहुद्दीन को अंतरराष्ट्रीय आतंकी घोषित किए जाने और ट्रंप-मोदी द्वारा पाक को आतंक पर कंट्रोल करने की नसीहत के बाद अब आर्मी चीफ बिपिन रावत का बयान आया है। सेना प्रमुख बिपिन रावत ने एक बयान में कहा है कि पाकिस्तान को सबक सिखाने के लिए सर्जिकल स्ट्राइक के अलावा और भी तरीके हैं। थल सेनाध्यक्ष बिपिन रावत ने कहा कि पाकिस्तान को सबक सिखाने के लिए सर्जिकल स्ट्राइक के अलावा दूसरे रास्ते भी मौजूद हैं। पाकिस्तान के नापाक इरादों पर बोलते हुए उन्होंने कहा कि वहां के फौजी जनरलों को लगता है कि वो भारत के साथ कोई आसान सी लड़ाई लड़ रहे हैं जिसमें उनका फायदा हो रहा है। लेकिन वो गलत हैं। पाकिस्तान को सबक सिखाने के लिए फौज और प्रभावी ढंग से निपट सकती है। हम सैनिकों के धड़ को इकठ्ठा करने में यकीन नहीं करते हैं। भारतीय फौज अनुशासित सेना है। अमेरिका द्वारा हिज्बुल सरगना सैयद सलाहुद्दीन को अंतरराष्ट्रीय आतंकी घोषित जाने पर बिपिन रावत ने कहा कि ये देखने की जरूरत है कि अब पाकिस्तान किस तरह से कार्रवाई करता है। सच तो ये है कि जिस दिन अमेरिका ने सैयद सलाहुद्दीन को अंतरराष्ट्रीय आतंकी घोषित किया उसके ठीक बाद पाकिस्तान ने कहा कि कश्मीर की आजादी के लिए संघर्ष चल रहा है। कश्मीर के लड़ाकों को पाकिस्तान नैतिक समर्थन देता रहेगा। सेना प्रमुख ने कहा कि लश्कर सरगना हाफिज सईद के ऊपर अमेरिका ने करोड़ों का इनाम घोषित कर रखा है। लेकिन पाकिस्तान की सरकार और सेना हाफिज की सुरक्षा में लगी हुई है। ऐसे में आप पाकिस्तान के वादों और दावों पर कैसे यकीन कर सकते हैं। सच ये भी है कि लश्कर के ठिकानों पर पाकिस्तान ने आज तक कोई कार्रवाई नहीं की है। कश्मीर के अलगाववादियों से बातचीत के मुद्दे पर जनरल बिपिन रावत ने कहा कि अगर शांति न हो तो बातचीत कैसे हो सकती है। कश्मीर घाटी में हालात को सामान्य बनाने के लिए सेना अपनी जिम्मेदारी को बखूबी निभा रही है। मैं उस शख्स से बातचीत करुंगा अगर वो भरोसा दे कि सेना के काफिले को निशाना नहीं बनाया जाएगा। जिस दिन ऐसा होगा वो खुद बातचीत के लिए आगे आएंगे। कश्मीर में सेना आतंकियों का सामना करने के साथ ही युवाओं के दिलों को जीतने की कोशिश भी कर रही है। हकीकत ये है कि कश्मीरी युवाओं को सुनियोजित तरीके से भ्रमित करने की खेल खेला जा रहा है। 12 से 13 साल के लड़के कहते हैं कि वो फिदायीन बनना चाहते हैं। आखिर सवाल ये है कि उनके दिमाग में वो कौन लोग हैं जहर भर रहे हैं। हम उन कश्मीरी नौजवान नेताओं तक पहुंचने की कोशिश कर रहे हैं, जिनसे बातचीत की जा सके। कश्मीरी अवाम खासतौर से युवाओं से उनकी अपील है कि हिंसा का रास्ता छोड़कर वो मुख्य धारा में लौटें। सेना का स्पष्ट मत है कि निर्दोष लोग निशाना बनें। आतंकियों के खिलाफ सभी अभियानों में ये कोशिश रहती है कि कम से कम नुकसान हो। श्रीनगर लोकसभा उपचुनाव के दौरान मानव ढाल बनाने वाले मेजर एन एल गोगोई का उन्होंने बचाव किया। बिपिन रावत ने कहा कि हाल ही में जामा मस्जिद के बाहर जम्मू-कश्मीर पुलिस के डिप्टी सुपरिटेंडेंट के साथ जो कुछ हुआ उस पर आप क्या कहेंगे। मेजर गोगोई के फैसले पर कहा कि उस वक्त निर्वाचन में जुड़े कर्मचारियों ने सेना से मदद मांगी थी। अगर उनके साथ भी अय्युब पंडित जैसी घटना हुई होती तो क्या होता। मैं वहां जमीन पर मौजूद नहीं होता हूं, मुझे नहीं पता होता है कि सेना के जवान किन हालातों से गुजर रहे होते हैं। मुझे फौज और जवानों के इकबाल को बनाए रखना है। आतंकियों की शरणगाह बना पाकिस्तान आतंकवाद को शह देकर लगातार पाकिस्तान अपने पड़ोसी देश भारत को पिछले कई वर्षों से परेशान करने में लगा है, आज वह खुद ऐसी दलदल में फंस चुका है जहां से निकलना शायद उसके लिए नामुमकिन हो गया है। इस बात के गवाह पाकिस्तान सरकार की तरफ से जारी 2014-15 वित्तीय वर्ष के वो आंकड़े हैं, जिनमें कहा गया है कि कम से कम देश का 70 फीसदी हिस्सा आतंकियों और जेहादियों के पनपने की जगह बन चुका है। 60 मिलियन लोग गरीबी रेखा से नीचे हालांकि, पाकिस्तान में सुरक्षाबलों की तरफ से लगातार इस ख़तरे से निपटने के लिए रास्ते तलाशे जा रहे हैं। लेकिन, सिविल एडमिनिस्ट्रेशन वहां के लोगों के जीवन स्तर में सुधार लाने में नाकाम रहा, जिसके चलते पिछले एक दशक से लगातार आतंकवाद बढ़ा है। एक अनुमान के मुताबिक, पाकिस्तान में पिछले साल गरीबी रेखा से नीचे गुजर-बसर करनेवालों की संख्या करीब 60 मिलियन थी। ये आंकड़े वास्तव में प्रधानमंत्री नवाज शरीफ और उनकी सरकार के विकास की राह में बड़ी चुनौती हैं। ये है पाकिस्तान की एक और तस्वीर संयुक्त राष्ट्र के अनुसार जेयूडी एक आतंकवादी संगठन है और उसके प्रमुख हाफिज सईद पर अमेरिकी सरकार ने एक करोड़ डालर का इनाम रखा है। लेकिन वह पाकिस्तान में खुलेआम घूमता है। अलकायदा से जुड़ा खतरनाक संगठन हक्कानी नेटवर्क भी प्रतिबंधित संगठनों की सूची में शामिल नहीं है। हक्कानी नेटवर्क पर अफगानिस्तान में पश्चिम और भारत के हितों के खिलाफ हमले का आरोप है। इनमें काबुल में 2008 में भारतीय मिशन पर हमला भी शामिल है। सूची के अनुसार पाकिस्तान ने 60 संगठनों को आतंकवाद में शामिल होने पर प्रतिबंधित किया है। सूची के अनुसार लश्कर-ए-तैयबा 39वें नंबर पर है जबकि जैश-ए-मुहम्मद 29वें स्थान पर है। अलकायदा और तहरीक-ए-तालिबान जैसे प्रमुख आतंकवादी संगठन भी इस सूची में शामिल हैं। भारतीय संसद पर हमले के बाद 14 जनवरी 2002 को लश्कर-ए-तैयबा तथा जैश-ए-मुहम्मद पर प्रतिबंध लगा दिया गया था।

Dakhal News

Dakhal News 28 June 2017


मानसरोवर यात्रा

चीन ने पहले तो भारतीय सीमा में घुसपैठ की और अब भारतीय सैनिकों पर ही आरोप लगा रहा है। उसने यह भी कहा है कि अगर भारत ऐसा नहीं करता तो नाथुला दर्रे से कैलास मानसरोवर यात्रा नहीं होने देगा। चीन का कहना है कि भारत अपने सैनिकों को वापस बुलाए। इससे पहले सोमवार को एक वीडियो सामने आया था जिसमें सिक्कीम में भारतीय और चीनी सैनिकों के बीच झड़प होती नजर आई थी। बाद में खबर आई की चीनी सैनिकों ने भारतीय सीमा में घुसकर दो बंकर नष्ट कर दिए थे। इसके बाद अब चीन ने भारत पर हीं घुसपैठ का आरोप लगा दिया है। चीन ने यह भी मांग की है कि भारतीय सैनिकों को सिक्कीम में तुरंत पीछे बुलाया जाए। चीन ने नाथुला दर्रे से कैलास मानसरोवर यात्रियों का आवागमन रोकने की भी धमकी दी है। चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता गेंग शुआंग ने एक बयान में कहा है कि चीन अपील करता है कि भारत सीमा पार करके आए अपने सैनिकों को तुरंत वापस बुलाए और पूरे मामले में जांच के आदेश दे। उन्होंने अपने बयान में आरोप लगाया कि भारतीय सीमा रक्षक सिक्कीम में भारत-चीन सीमा पार कर उसके क्षैत्र में चले गए और चीनी फ्रंटियर फोर्सेज की देवलांग में आम गतिविधियों को प्रभावित किया। इसके बाद चीन ने उसके जवाब में कदम उठाए। चीनी प्रवक्ता का यह बयान उसके रक्षा मंत्री के उस बयान के बाद आया है जिसमें उन्होंने दावा किया था कि उसकी जमीन पर सड़क और इमारत निर्माण का भारतीय सेना विरोध कर रही है। माना जा रहा है कि सड़क निर्माण का विरोध करना ही चीन को नागवार गुजरा और उसने कैलास मानसरोवर यात्रा के लिए नाथुला दर्रे को बंद कर दिया।

Dakhal News

Dakhal News 27 June 2017


नरेंद्र मोदी

भारत और अमेरिका रिश्तों की नई इबारत लिखने जा रहे हैं। राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के वाशिंगटन पहुंचते ही उन्हें सच्चा दोस्त बताकर इसकी नींव रख दी है। दोनों नेताओं के बीच होने वाली वार्ता पर पूरी दुनिया की नजर है। ट्रंप ने ट्वीट कर यह भी बताया कि मोदी से उनकी बातचीत रणनीतिक मुद्दों पर होगी। जवाब में मोदी ने गर्मजोशी भरे व्यक्तिगत स्वागत के लिए ट्रंप का धन्यवाद किया और सोमवार को व्हाइट हाउस में होने वाली बैठक और वार्ता के प्रति उत्सुकता जाहिर की। मगर, इससे ठीक पहले चीनी विदेश मंत्री ने अमेरिका और भारत को दक्षिण चीन सागर में शांति और स्थिरता में दखल न देने की बात कही है। इस बयान से चीन की बौखलाहट का अंदाजा लगाया जा सकता है कि वह भारत और अमेरिका के बीच प्रगाढ़ संबंधों, खासतौर पर सुरक्षा मसलों पर होने वाले समझौतों को लेकर बौखलाया है। उसे लगता है कि इससे एशिया प्रशांत क्षेत्र में वह अपनी मनमानी नहीं कर पाएगा। ट्रंप पहले भी इशारा कर चुके हैं कि दक्षिण एशिया में वह भारत को प्रमुख साझेदार मानते हैं। ऐसे में भारत और अमेरिका के मजबूत संबंधों से चीन को मिर्ची लगना लाजमी है। मोदी तीन देशों की अपनी यात्रा के दूसरे चरण में रविवार सुबह अमेरिका पहुंचे। व्हाइट हाउस के प्रेस सचिव सीन स्पाइसर ने बताया, "बैठक के दौरान, राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री के बीच आतंकवाद के खिलाफ सहयोग, भारत-प्रशांत क्षेत्र में रक्षा साझेदारी, वैश्विक सहयोग, व्यापार, कानून के कार्यान्वयन और ऊर्जा समेत कई मसलों पर बातचीत होगी।" दरअसल, सोमवार को दोनों नेता कई घंटे साथ व्यतीत करेंगे। इस दौरान दोनों नेताओं की अकेले बातचीत, प्रतिनिधिमंडल स्तर की बैठक, रिसेप्शन और व्हाइट हाउस में वर्किंग डिनर का कार्यक्रम है। मोदी के लिए आयोजित किया जाने वाला वर्किंग डिनर वर्तमान अमेरिकी प्रशासन की ओर से आयोजित अपनी तरह का पहला आयोजन है। व्हाइट हाउस के एक वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी ने बताया, "व्हाइट हाउस इस यात्रा को खास बनाने के प्रति बेहद उत्सुक है। हम वास्तव में बेहद गर्मजोशी से स्वागत करना चाहते हैं। इस प्रशासन के तहत किसी विदेशी गणमान्य अतिथि के लिए यह पहला डिनर होगा। इसलिए हमें लगता है कि इसका खासा महत्व है।" ट्रंप प्रशासन ने उन खबरों को खारिज किया है कि वर्तमान अमेरिकी सरकार भारत की अनदेखी कर रही है। अमेरिकी प्रशासन का कहना है, राष्ट्रपति ट्रंप मानते हैं कि यह देश (भारत) दुनिया में "अच्छाई की ताकत" रहा है और उसके साथ गठजोड़ बेहद महत्वपूर्ण है। व्हाइट हाउस के अधिकारी ने कहा, "हमें शासन में आए हुए अभी छह महीने ही हुए हैं। लेकिन इस दौरान राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बीच फोन पर दो बार अच्छी बातचीत हो चुकी है जिससे संबंधों को बनाए रखने की दोनों देशों की उत्सुकता प्रदर्शित होती है।" जब उनसे पूछा गया कि क्या बातचीत के दौरान एच-1बी वीजा का मसला भी उठेगा, इस पर उन्होंने कहा कि इस मुद्दे को अमेरिका की ओर से उठाए जाने की संभावना है, लेकिन अगर इसे भारतीय पक्ष ने उठाया तो अमेरिका इसके लिए तैयार है।

Dakhal News

Dakhal News 26 June 2017


दो आतंकी ढ़ेर

  श्रीनगर में शनिवार को हुए आतंकी हमले के बाद डीपीएस की बिल्डिंग में छिपे दोनों आतंकियों को सेना ने मार गिराया है। हालांकि अभी इसकी पुष्टि नहीं हुई है, लेकिन सेना के हवाले से कहा जा रहा है कि एक आतंंकी का शव बरामद हो गया है और दूसरा भी मारा गया है। रविवार सुबह से गोलीबारी हो रही थी। 17 घंटे बाद यह ऑपरेशन खत्म हुआ। इससे पहले लालचौक से लगभग 12 किलोमीटर दूर जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग पर स्थित पंथाचौक में शनिवार को आतंकियों ने सीआरपीएफ के वाहनों पर हमला किया, जिसमें एक सब इंस्पेक्टर शहीद व दो अन्य जवान घायल हो गए थे। फिलहाल पूरे इलाके की घेराबंदी करते हुए एहतियातन साथ सटे सेनवार, राममुंशी बाग, पंथाचौक व सेमपुरा में निषेधाज्ञा लागू कर दी गई है। इस बीच आतंकी संगठन लश्कर ने हमले की जिम्मेदारी ली है। आतंकी हमले में शहीद सीआरपीएफ के सब इंस्पेक्टर की पहचान साहब शुक्ला निवासी गांव मांझी, तहसील बंसगाम, गोररखपुर (उत्तर प्रदेश) के रूप में हुई है। घायल जवानों में से वाहन चालक निसार अहमद की हालत गंभीर बनी हुई है। बीती शाम करीब पौने छह बजे सीआरपीएफ की 29वीं वाहिनी के जवानों का एक दल अपने वाहनों में शिविर की तरफ लौट रहा था। यह दल जब श्रीनगर शहर के प्रवेशद्वार पंथाचौक के पास पहुंचा तो वहां स्थित डीपीएस स्कूल के बाहर भीड़ में छिपे आतंकियों ने सीआरपीएफ के वाहनों पर गोलियों की बौछार कर दी। इस हमले में सीआरपीएफ के तीन जवान गंभीर रूप से घायल हो गए।  

Dakhal News

Dakhal News 25 June 2017


पाकिस्तान में सौ से ज्यादा जिंदा जले

  पाकिस्तान से भीषण हादसे की खबर है। यहां के पंजाब प्रांत के बहावलपुर शहर में तेल टैंकर में आग लगने के कारण कम से कम 123 लोगों की मौत हो गई और जबकि 40 लोग घायल बताए जा रहे हैं। सुरक्षाकर्मी मौके पर पहुंच गए हैं और घायलों को बहावल विक्टोरिया अस्पताल और गंभीर रूप से घायल लोगों को जिला मुख्यालय अस्पताल शारिया ले जाया गया है। जियो टीवी के मुताबिक, हाईवे पर तेल टैंकर तेज गति से जा रहा था। संतुलन बिगड़ने से वह पलट गया और तेल रिसने लगा, जिसे भरने के लिए भीड़ जमा हो गई। ये लोग लीक तेल को डब्बों में भर रहे थे। प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार आसपास के कुछ लोग सिगरेट पी रहे थे जिस वजह से आग लग गई। हादसा शहर के राष्ट्रीय राजमार्ग के पुल के निकट हुआ। विस्फोट इतना भयंकर था कि 75 मोटरबाइक और चार कारें भी जल गईं। बचाव सूत्रों के मुताबिक, मृतक की पहचान उनके डीएनए नमूना प्राप्त किए बिना पता नहीं की जा सकती क्योंकि शव बुरी तरह से जल चुके हैं। आग पर काबू पा लिया गया है और हाईवे पर यातायात भी बहाल कर दिया गया है। इस बीच, पंजाब के मुख्यमंत्री शाहबाज शरीफ ने हादसे के जांच के आदेश दे दिए हैं। सेना के हेलीकॉप्टर भी लगाए गए हैं ताकि घायलों को तुरंत अस्पताल पहुंचाया जा सके। बहावलपुर के डीसीओ सलीम अफजल के अनुसार, हादसा रविवार सुबह अहमद जयपुर शरकया के पास राष्ट्रीय राजमार्ग पर हुआ।

Dakhal News

Dakhal News 25 June 2017


पांच आतंकी ढेर

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में सेना ने बड़ी कामयाबी हासिल करते हुए पिछले 24 घंटे में 5 आतंकियों को मार गिराया है। इनमें लश्कर के तीन आतंकी शामिल हैं इन तीनों की पहचान माजिद मीर, शरीफ अहमद और इर्शाद अहमद के रूप में हुई है। इन तीनों आतंकियों के पास से सेना ने तीन एके-47 रायफल्स भी बरामद की हैं। ऑपरेशन के बाद मीडिया को इस बात की जानकारी देते हुए 50 राष्ट्रीय रायफल कर्नल अजीत कुमार ने कहा कि मारे गए आतंकियों में से 2 मेरे एरिया के थे। वहां करीब 12 आतंकियों को मैजूदगी थी जिनमें से दो मारे गए जबकि 10 अब भी बचे हैं। ऑपरेशन के दौरान पथराव हुआ लेकिन हम उनसे अच्छी तरह डील कर पाए। खबरों के अनुसार बुधवार शाम सेना को पुलवामा के काकपोरा इलाके में आतंकियों के होने की खबर मिली थी जिसके बाद इलाके को घेरते हुए सर्च ऑपरेशन शुरू किया गया। इस दौरान हुई मुठभेड़ में तीनों आतंकियों को मार गिराया गया। इस दौरान स्थानीय लोगों ने सुराक्षाबलों का ध्यान आतंकियों से हटाने के लिए उन पर पथराव कर दिया। हालांकि जवान अपनी जगह से हिले नहीं और आतंकियों को मार गिराया। वहीं दूसरी तरफ सेना ने एलओसी के पलानवाला सेक्टर में घुसपैठ की एक कोशिश को नाकाम करते हुए भारी मात्रा में गोला-बारूद बरामद किए हैं। इससे पहले बुधवार को ही सुरक्षाबलों ने उत्तरी कश्मीर के सोपोर में हिजबुल मुजाहिदीन को बड़ा झटका देते हुए बुधवार को दुर्दांत आतंकी गुलजार अहमद उर्फ इब्राहिम और उसके साथी बासित को मार गिराया। बराथ कलां (सोपोर) का रहने वाला गुलजार वादी में सक्रिय ए-श्रेणी के आतंकियों में शुमार था। उसके जिंदा अथवा मुर्दा पकड़े जाने पर आठ लाख का इनाम घोषित था। उसके साथ मारा गया आतंकी बासित अहमद मीर अंद्रगाम (पट्टन) का रहने वाला था। फरवरी 2016 में आतंकी संगठन में सक्रिय हुए बासित पर भी तीन लाख का इनाम था। दोनों से दो एसाल्ट राइफलें, पांच एके मैगजीन, 124 कारतूस और एक हथगोला भी बरामद हुआ है।

Dakhal News

Dakhal News 22 June 2017


pm modi yoga

अंतरराष्ट्रीय योग दिवस को देश के हर कोने में बड़े उत्साह से मनाया जा रहा है। इस मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लखनऊ में कहा है कि योग को जीवन में नमक की तरह महत्वपूर्ण बनाएं। मोदी ने योग दिवस पर लखनऊ में हजारों लोगों के साथ बरसते पानी में योग किया। करीब 45 मिनट योग करने के बाद पीएम मोदी यहां से रवाना हो गए और उनके जाते ही लोगों की संख्या भी कम होने लगी। बुधवार को भारत समेत दुनियाभर के 150 देश अंतरराष्ट्रीय योग दिवस मना रहे हैं। भारत में भी दिल्‍ली से लेकर लद्दाख तक लोग योग करते नजर आ रहे हैं। भारत में सबसे बड़ा आयोजन लखनऊ के रमाबाई अंबेडकर मैदान पर हुई जहां प्रधानमंत्री मोदी खुद मौजूद रहे। तेज बारिश के बीच प्रधानमंत्री मंच से नीचे आकर लोगों के बीच उनके साथ योग किया। उनके साथ राज्यपाल राम नाईक, राज्य के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य भी मौजूद थे। इनके अलावा मैदान पर 51 हजार लोगों एक साथ योग कर रहे थे। तेज बारिश के बावजूद लोगों का उत्साह कम नहीं हुआ और लोग यहां बैठे रहे। इससे पहले पीएम मोदी ने कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि आज योग जन-जन का और घर-घर का हिस्सा बन रहा है। इसे देश में ही नहीं बल्कि दुनियाभर में मशहूर हुआ है और दुनिया को भारत से जोड़ा है। विश्व के तमाम देश योग के कारण भारत से जुड़ रहे हैं वह हमारी भाषा नहीं जानते हमारी संस्कृति भी ढंग से नहीं जानते मगर योग से हमसे जुड़ रहे हैं। उन्होंने कहा कि देशभर में योगा इंस्टिट्यूट खोल रहे हैं युवा योग सीख रहे हैं आज विश्व के देशों में योग ट्रेनर की मांग बढ़ रही है भारत के लोगों को प्राथमिकता दी जा रही है। हमने कहा हम योग के अभ्यास बने, योग करके हम अपने शरीर के अंग जो सुषुप्तावस्था मे रहते हैं उन्हें जाग्रत किया जा सकता है। जीवन में एक चुटकी नमक का बहुत महत्व है या शरीर की रचना में महत्वपूर्ण है इसी तरह योग भी बहुत महत्वपूर्ण है। इससे पहले पीएम मोदी के यहां पहुंचते ही लखनऊ में बारिश शुरू हो गई और योग करने पहुंचे लोग योगा मेट से खुद को ढककर बारिश से बचते दिखे। इसे देखकर पीएम ने कहा कि मैंने पहली बार देखा है कि योगा मेट का इस तरह से भी कोई उपयोग हो सकता है। प्रधानमंत्री की मौजूदगी के चलते रमाबाई अंबेडकर मैदान और उसके चारों ओर चाकचौबंद सुरक्षा व्यवस्था की गई है। आयुष मंत्रालय के मुताबिक, देशभर में योग दिवस के 5,000 से ज्यादा आयोजन होंगे। वहीं दूसरी तरफ अहमदाबाद में बाबा रामदेव योग दिवस पर लोगों को योग करवा रहे हैं। दावा है कि यहां एक साथ 5 लाख लोगों ने योग किया है। इस आयोजन में भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के अलावा मुख्यमंत्री विजय रूपाणी भी शामिल हुए हैं। आईटीबीपी (भारत-तिब्बत सीमा पुलिस) के जवानों ने लद्दाख की जमा देने वाली ठंड में योग कर लोगों को एक संदेश दिया। आईटीबीपी के जवानों ने अंतरराष्‍ट्रीय योग दिवस के अवसर पर लगभग 18000 फीट की ऊंचाई पर लद्दाख में -25 डिग्री सेल्सियस की कड़कड़ाती ठंड में योग किया। ऐसा कर सेना के जवानों ने देशवासियों को यह संदेश दिया कि परिस्थितियां चाहे जैसी भी हों, योग कहीं भी किया जा सकता है। योग करते समय इन जवानों के चारों ओर बर्फ की मोटी चादर साफ देखी जा सकती है। जवानों के मुंह से निकलने वाली भाप से अंदाजा लगाया जा सकता है कि वहां कितनी ठंड पड़ रही है। उधर नौसैनिकों ने भी अंतरराष्‍ट्रीय योग दिवस के मौके पर योग किया। आईएनएस विक्रमादित्‍य एयरक्राफ्ट पर मौजूद नौसैनिकों ने भी योग अभ्‍यास किया। आईएनएस विक्रमादित्य भारतीय नौसेना का सबसे बड़ा विमानवाहक पोत है। यह समुद्र का बेताज बादशाह है। इसकी लंबाई 283.5 मीटर है और यह 20 मंजिला ऊंचा है। इसका वजन 44,500 टन है। यह 30 लड़ाकू जहाज ले जाने की क्षमता से लैस है।  

Dakhal News

Dakhal News 21 June 2017


raman singh yoga

रायपुर में  मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के नेतृत्व में बुधवार सुबह छत्तीसगढ़ राज्य ने एक अनोखा विश्व कीर्तिमान बनाया। मुख्यमंत्री के साथ राज्य के लगभग 50 लाख लोगों ने अलग-अलग स्थानों पर एकसाथ योगाभ्यास किया। प्रदेश के लगभग 11 हजार स्थानों पर स्कूली बच्चों, बुजुर्गो, युवाओं और महिलाओं सहित समाज के सभी वर्गों ने पूरे उत्साह के साथ योगाभ्यास किया। मुख्यमंत्री डॉ. सिंह राजधानी रायपुर के बूढ़ातालाब (विवेकानंद सरोवर) के सामने इंडोर स्टेडियम में 600 स्कूली बच्चों के साथ एक घण्टे तक सामान्य योग अभ्यास क्रम के अनुसार योग के विभिन्न आसनों का अभ्यास किया। योग अभ्यास कार्यक्रम छत्तीसगढ़ योग आयोग के अध्यक्ष संजय अग्रवाल ने किया। इस अवसर पर छत्तीसगढ़ के सभी जिलों में एक साथ लगभग 50 लाख लोगों के योगाभ्यास के कीर्तिमान को गोल्डन बुक ऑफ वर्ल्ड रिकार्ड में दर्ज किया गया। कार्यक्रम में उपस्थित गोल्डन बुक ऑफ वर्ड रिकार्डस् के आब्जर्वर संतोष अग्रवाल ने मुख्यमंत्री को इस विश्व कीर्तिमान का प्रमाण पत्र सौंपा। आयोजन में मुख्यमंत्री के साथ स्कूली बच्चों के अलावा कई जनप्रतिनिधियों और शासन प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारियों ने भी योग अभ्यास किया। डॉ.रमन सिंह ने सामूहिक योग अभ्यास के बाद स्कूली बच्चों और नागरिकों को संबोधित करते हुए कहा कि योग को हमें अपनी दिनचर्या में शामिल करना चाहिए। हमने यहां केवल आज ही नही बल्कि वर्ष के पूरे 365 दिन योग करने का संकल्प लिया है। इस संकल्प पर हमें कायम रहना होगा।  

Dakhal News

Dakhal News 21 June 2017


2 रुपए किलो  मिलेगा प्याज

सीएम शिवराज सिंह चौहान की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट की बैठक में बिजली सबसिडी को मंजूरी मिल गई, जो 9541 करोड़ रुपए की रहेगी। इसी के साथ अब सरकार 18 साल तक के बाल ह्रदय रोगी बच्चे का मुफ्त इलाज कराएगी। बाल श्रवण योजना में भी आयु सीमा 6 साल से बढ़ाकर 8 साल कर दी गई है। कृषि कैबिनेट की बैठक में किसानों से खरीदा गया प्याज राशन की दुकानों पर 2 रुपए किलों में बेचने का निर्णय लिया गया है। बैठक में किसानों को खरीफ का कर्ज चुकाने के लिए मार्च तक का समय देने को मंजूरी दी गई। हाईकोर्ट के कम्प्यूटर प्रशिक्षण प्राप्त अधिकारी कर्मचारी को एक अग्रिम वेतन दिया जाएगा। प्रदेश के मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने किसान आत्महत्यों के सवाल पर कहा कि सबके कारण अलग-अलग हैं, इन्हें कर्ज से जोड़ना गलत है। अचानक हुई कृषि कैबिनेट में छाया रहा प्याज कृषि कैबिनेट में खरीदी केंद्रों में किसानों को आ रही समस्याओं पर मंथन हुआ। इसमें किसानों की प्याज हर हाल में खरीदने के निर्देश दिए गए। बाहरी प्रदेशों से एमपी में आ रही प्याज को रोकने के लिए इंतजाम किया जाएगा। वित्त मंत्री जयंत मलैया ने कहा कि सरकार पर कितना भी आर्थिक बोझ आए, वो वहन करेगी। उन्होंने कहा कि प्याज की भारी भरकम पैदावार का उन्हें अंदाजा नहीं था। मंत्री गौरीशंकर बिसेन ने कहा कि राशन की दुकानों से भी प्याज खरीदा जा सकेगा। जहां वो 2 रुपए प्रति किलों की दर से मिलेगा। उन्होंने यह भी कहा कि कितने खेत में प्याज लगाई और कितना उत्पादन हुआ, इसका भी हिसाब रखा जाएगा। जो किसान फर्जी तरीके से प्याज बेचेगा उस पर एफआईआर दर्ज की जाएगी।  

Dakhal News

Dakhal News 20 June 2017


कांग्रेस नेता छन्नूराम की  हत्या

दंतेवाड़ा के किरंदुल थाना क्षेत्र के चोलनार गांव में नक्सलियों ने मुखबिरी के शक में एक कांग्रेस नेता की मंगलवार को हत्या कर दी। मिली जानकारी के मुताबिक कुआकोंडा ब्लॉक के पूर्व जनपद अध्यक्ष और कांग्रेस नेता छन्नूराम मंडावी की नक्सलियों ने धारदार हथियार से गला रेतकर हत्या कर दी। नक्सलियों ने जनअदालत लगाकर मंडावी पर पुलिस मुखबिरी करने का आरोप लगाया था। गौरतलब है कि इससे पहले भी नक्सली जनअदालत लगाकर मंडावी को सजा दे चुके हैं।घटना की जानकारी मिलने पर पुलिस बल घटना स्थल पर रवाना हो चुका है और मामले की जांच शुरू कर दी है।  

Dakhal News

Dakhal News 20 June 2017


love story

    सुप्रीम कोर्ट की एक टिप्पणी में असफल प्रेम कहानियों का बेहद जीवंत वर्णन मिला है। कोर्ट ने कहा है कि भारत में माता-पिता के फैसले को स्वीकार करने के लिए बेटियां अपने प्यार को कुर्बान कर देती हैं और भारत में यह आम बात है। सुप्रीम कोर्ट ने एक व्यक्ति की उम्रकैद की सजा को खारिज करते हुए अपने फैसले में यह टिप्पणी की। इस व्यक्ति ने एक महिला से गुपचुप शादी की और इसके तुरंत बाद दोनों ने खुदकुशी की कोशिश की। इसमें व्यक्ति जीवित बच गया, जबकि 23 वर्षीय पीड़िता को बचाया नहीं जा सका। बहरहाल, वर्ष 1995 की इस घटना में पुलिस ने व्यक्ति के खिलाफ पीड़िता की हत्या का मामला दर्ज किया। शीर्ष अदालत ने कहा कि हो सकता है महिला अनिच्छा से अपने माता-पिता की इच्छा को मानने के लिए राजी हो गई हो, लेकिन घटनास्थल पर फूलमाला, चूड़ियां और सिंदूर देखे गए। इनसे ऐसा प्रतीत होता है कि बाद में उसका मन बदल गया। कोर्ट ने कहा कि महिला ने अपने प्रेमी से यह भी कहा हो कि उसका परिवार राजी नहीं है इसलिए वह उससे शादी नहीं करेगी। जस्टिस एके सीकरी और जस्टिस अशोक भूषण की एक पीठ ने कहा, इस देश में यह आम बात है कि बेटियां अपने माता-पिता की इच्छा को स्वीकार करने के लिए अपने प्यार का बलिदान कर देती हैं, भले ही ऐसा वह अनिच्छा से करती हों। कोर्ट ने कहा कि पीड़ित और आरोपी एक-दूसरे से प्यार करते थे और लड़की के पिता ने अदालत के समक्ष यह गवाही दी थी कि जाति अलग होने के कारण उनके परिवार ने इस शादी के लिए रजामंदी नहीं दी थी। व्यक्ति को कथित तौर पर उसकी हत्या करने का दोषी ठहराते हुए निचली अदालत ने उसे उम्रकैद की सजा सुनाई थी और इस फैसले की राजस्थान हाई कोर्ट ने भी पुष्टि की थी। सुप्रीम कोर्ट ने टिप्पणी की कि परिकल्पना के आधार पर आपराधिक मामलों के फैसले नहीं किए जा सकते और उसने व्यक्ति को बरी करते हुए कहा कि पर्याप्त संदेह के बावजूद अभियोजन पक्ष उसका दोष सिद्ध करने में सक्षम नहीं रहा है।  

Dakhal News

Dakhal News 19 June 2017


 ग्राम से संग्राम

राजस्थान में चल रहा किसान आंदोलन अब संभाग मुख्यालयों के बजाए गांवों से ही चलेगा। किसान अब गांवों से सब्जियों और दूध की आपूर्ति रोकेंगे, मंडियां बंद रहेंगी और सड़कें जाम की जाएंगी। सोमवार को सभी संभाग मुख्यालयों पर आयुक्त कार्यालय का घेराव कर गिरफ्तारियां दी जाएंगी। वहीं 20 जून से ग्राम से संग्राम अभियान शुरू करेंगे। राजस्थान में राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ से जुड़े भारतीय किसान संघ के नेतृत्व में किसानों ने 15 जून से महापड़ाव शुरू किया था। इसके तहत राजस्थान के आठ बड़े शहरों जयपुर, जोधपुर, बीकानेर, उदयपुर, कोटा, भरतपुर, अजमेर और सीकर में महापड़ाव दिया जा रहा था। किसान संघ ने अनिश्चितकालीन महापड़ाव का दावा किया था, लेकिन चार दिन में सरकार की ओर से कोई सुनवाई नहीं किए जाने पर अब संघ ने आंदोलन की रणनीति बदल दी है। संघ के जोधपुर प्रांत के अध्यक्ष हीरालाल चौधरी ने बताया कि शनिवार को हुई संघ की बैठक में अब आंदोलन को तेज करने का निर्णय किया गया है, लेकिन यह आंदोलन अब संभागों के बजाए गांवों से ही चलेगा। किसान 20 जून से ग्राम से संग्राम अभियान के तहत गांव बंद किए जाएंगे। मंडियां बंद रहेंगी। गांवों से सब्जियों और दूध की आपूर्ति के साथ सड़कें रोकी जाएंगी। चौधरी ने बताया कि चार दिन के महापड़ाव के बाद भी सरकार की ओर से कोई सुनवाई नहीं किए जाने से साफ है कि सरकार शांतिप्रिय आंदोलन की सुनवाई नहीं करती। ऐसे में अब किसान के पास बंद के अलावा और कोई लोकतांत्रिक उपाय नहीं बचा है।  

Dakhal News

Dakhal News 19 June 2017


आईसीसी वन-डे रैंकिंग

चैंपियंस ट्रॉफी 2017 के फाइनल में जगह बनाने वाली भारतीय टीम आईसीसी की ताजा वनडे रैंकिंग में दूसरे नंबर पर पहुंच गई है। इस रैंकिंग में भारतीय टीम ने एक स्थान का छलांग लगाई है। भारत 118 अंक के साथ दूसरे नंबर पर है जबकि दक्षिण अफ्रीका 119 अंकों के साथ पहले नंबर पर हैं। रैंकिंग में ऑस्ट्रेलिया तीसरे नंबर पर है और उसके 117 अंक है। ऑस्ट्रेलिया चैंपियंस ट्रॉफी के सेमीफाइनल से पहले ही बाहर हो चुकी है। रैंकिंग में चौथे नंबर पर इंग्लैंड है जो चैंपियंस ट्रॉफी के सेमीफाइनल में पाकिस्तान से हारकर बाहर हो चुकी थी। इंग्लैंड के 113 अंक है। न्यूजीलैंड को बांग्लादेश ने मात देकर टूर्नामेंट से बाहर का रास्ता दिखाया था। वह फिलहाल 111 अंकों के साथ पांचवे पायदान पर है। चैम्पिंयस ट्रॉफी में शानदार प्रदर्शन करने वाली बांग्लादेश की टीम के 94 अंक हैं और वह छठे पायदान पर है। इसके बाद पाकिस्तान, श्रीलंका और वेस्टइंडीज का नंबर है। अब 18 जून को आज होने वाले फाइनल मुकाबले में अगर पाकिस्तान टीम जीत दर्ज करती है तो वो रैंकिंग में बांग्लादेश टीम को पीछे छोड़ देगी, वहीं फाइनल में अगर भारत जीतती है तो वो नंबर एक टीम बन जाएगी, लेकिन फाइनल में मिली हार टीम इंडिया को दोबारा तीसरे पायदान पर ले जाएगी।  

Dakhal News

Dakhal News 18 June 2017


यूरोपीय संसद

बेल्जियम में  यूरोपीय संसद ने पाकिस्तान की सैन्य अदालतों की कार्य प्रणाली और सवाल उठाए हैं। यूरोप संसद ने साथ ही पाकिस्तानी सैन्य अदालतों के काम करने के तरीकों पर चिंता भी जाहिर की है।   जानकारी के मुताबिक यूरोपीय यूनियन की संसद में कहा गया कि पाकिस्तान की सैन्य अदालतें गुप्त तरीके के साथ सुनवाई करती हैं। संसद के एक मैंबर ने कहा कि पाकिस्तान में मानवीय अधिकारों के हनन का स्तर बेहद चिंतनीय है। यहां तक कि आरोपियों को बचाव का मौका तक नहीं दिया जाता या तो उन्हें मार दिया जाता है, या उन्हें गायब कर दिया जाता है। ईयू संसद ने पाकिस्तानी सरकार और सक्षम अधिकारियों से आग्रह किया है कि सैन्य बलों की हिरासत में होने वाली मौतों की गहन और बिना किसी पक्षपात के जांच करे। पाकिस्तान पर पेश प्रस्ताव में ये भी कहा गया है कि पाकिस्तान अपने यहां तत्काल सैन्य अदालतों को पारदर्शी रूप से सिविल अदालतों में तब्दील करने की प्रक्रिया शुरू करे। यूरोपीय संसद पाकिस्तान में सैन्य बलों को मिली खूली छूट को लेकर चिंतित है। उसने पाकिस्तान सरकार से कहा है कि वह पाक सेना के क्रियाकलापों पर गंभीरता से नजर रखे।

Dakhal News

Dakhal News 16 June 2017


nawaz sharif

इस्लामाबाद में  पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ पनामागेट मामले की जांच के लिए सुप्रीम कोर्ट द्वारा गठित दल के समक्ष बुधवार को हाजिर हुए। वह पाकिस्तान के पहले प्रधानमंत्री हैं जो पद पर रहते हुए इस तरह के पैनल के सामने पेश हुए। शरीफ ने कहा कि उन्होंने और उनके परिवार ने कुछ नहीं किया है ये उनकी सरकार के खिलाफ साजिश है। शरीफ की बेटी मरियम नवाज ने न्यायिक अकादमी रवाना होने के पहले अपने पिता और उनके प्रमुख सहयोगियों की एक तस्वीर पोस्ट करके ट्वीट किया है। आज के दिन ने इतिहास रच दिया है और बहु प्रतीक्षित और स्वागत योग्य उदाहरण स्थापित किया हैं। संयुक्त जांच दल के प्रमुख वाजिद जिया ने शरीफ को मामले से जुड़े सभी कागजात लेकर बुधवार छह सदस्यीय दल के समक्ष तलब किया। कमेटी के सामने से पेश होने से पहले शरीफ ने सुबह अपने परिजनों और करीबी सहयोगियों से विचार विमर्श किया है। उन्होंने अपनी पार्टी कार्यकर्ताओं को उनके साथ आने के लिए मना किया है। शरीफ के कजाख्स्तान से वापस लौटने के बाद उन्हें समन जारी किया गया। शरीफ शंघाई सहयोग संगठन शिखर सम्मेलन में हिस्सा लेने के लिए कजाखस्तान गए थे। सुप्रीम कोर्ट ने पनामा पेपर मामले में 20 अप्रैल को जेआईटी का गठन किया था और प्रधानमंत्री, उनके बेटे और मामले से जुड़े हर व्यक्ति से पूछताछ करने का अधिकार दिया था। यह दल धन शोधन मामले की जांच कर रहा है जिसके जरिए लंदन के पॉश पार्क लेन क्षेत्र में चार अपार्टमेंट खरीदे गए थे।  

Dakhal News

Dakhal News 16 June 2017


चैंपियंस ट्रॉफी

  एजबेस्टन में रोहित शर्मा के शानदार शतक (123 नाबाद) और उनके तथा विराट कोहली (96 नाबाद) के बीच हुई अविजित शतकीय भागीदारी से भारत गुरुवार को चैंपियंस ट्रॉफी सेमीफाइनल में बांग्लादेश को 9 विकेट से रौंदकर फाइनल में पहुंच गया। तमीम इकबाल (70) और मुश्फिकुर रहीम (61) के अर्द्धशतकों से बांग्लादेश ने 7 विकेट पर 264 रन बनाए। इसके जवाब में भारत ने 40.1 अोवरों में 1 विकेट खोकर लक्ष्य हासिल कर लिया। अब रविवार को होने वाले फाइनल में भारत का मुकाबला पाकिस्तान से होगा। लक्ष्य का पीछा कर रहे भारत को धवन और रोहित ने तेज शुरुआत दिलाई। धवन इसी दौरान सौरव गांगुली को पीछे छोड़कर चैंपियंस ट्रॉफी इतिहास में भारत की तरफ से सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज बने। वे 46 के निजी स्कोर पर मुर्तजा की गेंद पर मोसाद्देक को पाइंट पर कैच दे बैठे। उन्होंने 34 गेंदों में 7 चौके और 1 छक्का लगाया तथा रोहित के साथ पहले विकेट के लिए 87 रन जोड़े। इसके बाद रोहित शर्मा और विराट दूसरे विकेट के लिए अविजित शतकीय भागीदारी कर चुके हैं। रोहित ने मुस्ताफिजुर की गेंद पर छक्का लगाते हुए वन-डे में अपना 11वां शतक पूरा किया। यह उनका चैंपियंस ट्रॉफी में पहला शतक है। उन्होंने इसके लिए 111 गेंदों में 12 चौके और 1 छक्का लगाया। रोहित और कोहली ने 178 रनों की अविजित भागीदारी करते हुए टीम को 9.5 अोवर शेष रहते जीत दिलाई। रोहित 129 गेंदों का सामना कर 15 चौकों और 1 छक्के की मदद से 123 और विराट 78 गेंदों में 13 चौकों की मदद से 96 रन बनाकर नाबाद रहे। भारत ने टॉस जीतकर पहले बांग्लादेश को बल्लेबाजी के लिए बुुलाया। भुवी ने कप्तान के फैसले को सही साबित करते हुए सरकार (0) को पैवेलियन लौटाया, सरकार उनकी गेंद को स्टंप्स पर खेल बैठे। शब्बीर रहमान ने आते ही आक्रामक बल्लेबाजी शुरू की, लेकिन वे ज्यादा देर तक क्रीज पर नहीं टिक पाए। भुवी की ऑफ स्टंप के बाहर की शॉर्ट गेंद को कट करने के चक्कर में वे पाइंट पर जडेजा को कैच थमा बैठे। उन्होंने 4 चौकों की मदद से 19 रन बनाए। तमीम जब 16 रनों पर थे तब हार्दिक ने उन्हें बोल्ड किया था, लेकिन वह नोबॉल निकली। इसके बाद तमीम ने इसका लाभ उठाकर दमदार पारी खेली। तमीम ने रहीम के साथ शतकीय भागीदारी (123) कर पारी को मजबूती प्रदान की। नियमित गेंदबाजों को सफलता मिलते नहीं देख विराट ने केदार को गेंद सौंपी और उन्होंने तमीम को बोल्ड कर भारत को महत्वपूर्ण सफलता दिलाई। उन्होंने 82 गेंदों में 7 चौकों और 1 छक्के की मदद से 70 रन बनाए। अब टीम की उम्मीदें रहीम और शाकिब पर टिक गई थी। लेकिन जडेजा ने शाकिब (15) को धोनी के हाथों कैच कराया। अभी बांग्लादेश इस सदमे से उबरा भी नहीं था कि जाधव की गेंद पर रहीम (61) ने मिडविकेट पर कोहली को कैच थमाया। महमदुल्लाह जब 4 रनों पर थे तब हार्दिक की गेंद पर थर्डमैन पर अश्विन ने उनका कैच छोड़ा। बुमराह ने इसके बाद मोसाद्देक हुसैन और महमदुल्लाह को अपना शिकार बनाया। मशरफे मुर्तजा 30 और तस्कीन अहमद 11 रनों पर नाबाद रहे। भारत की तरफ से भुवनेश्वर कुमार, जसप्रीत बुमराह और केदार जाधव ने 2-2 विकेट लिए। मैच के लिए दोनों टीमों में कोई परिवर्तन नहीं किया गया है। भारत ने अंतिम ग्रुप मैच में दक्षिण अफ्रीका को हराकर सेमीफाइनल का टिकट कटाया था। दूसरी तरफ बांग्लादेश ने न्यूजीलैंड को शिकस्त देकर अंतिम चार में जगह बनाई थी। बांग्लादेश टीम आईसीसी टूर्नामेंट्‍स में भारत को सिर्फ एक बार (2007 विश्व कप) पराजित कर पाई है। बांग्ला टीम पहली बार किसी आईसीसी टूर्नामेंट के सेमीफाइनल में पहुंची है, इसके चलते खिलाड़ी मुहिम को आगे बढ़ाकर फाइनल तक पहुंचाने के लिए पूरी ताकत लगाएंगे। टीम न्यूजीलैंड के खिलाफ चार तेज गेंदबाजों के साथ मैदान में उतरी थी और उसके द्वारा इस मैच में स्पिनर मेहदी हसन को मौका दिए जाने की संभावना कम ही है।  

Dakhal News

Dakhal News 16 June 2017


शिवराज के मंत्री  चोर

खबर बालाघाट से । मध्यप्रदेश शासन के कृषि मंत्री गौरीशंकर बिसेन व बालाघाट-सिवनी सांसद बोधसिंह भगत के बीच मतभेद अब हर मंचीय कार्यक्रम में खुलकर सामने आने लगे है। कुछ दिन पूर्व ही दिव्यांग सामूहिक विवाह के दौरान उत्कृष्ट मैदान में सांसद ने सम्मान न करने पर सिर्फ गौरीशंकर बिसेन के परिवार का ही राज नहीं है अभी सांसद भी यहां पर मौजूद है कहकर मंच से ही नाराजगी व्यक्त की थी।सांसद से जब मंत्री बिसेन बदतमीजी पर उतर आये तो शिवराज सरकार के मंत्री को सांसद ने चोर तक कहा।  सांसद बोधसिंह भगत और प्रदेश के केबिनेट मंत्री गौरीशंकर बिसेन के बीच चल रहे मतभेद, गुटबाजी बुधवार को एक बार फिर सार्वजनिक मंच पर नजर आई। सार्वजनिक मंच पर ही सांसद और मंत्री के बीच हॉट-टॉक हो गई। अवसर था जिले के मलाजखंड मुख्यालय में आयोजित सबका साथ सबका विकास सम्मेलन का। सांसद बोधसिंह भगत जब समारोह को संबोधित कर रहे थे, तब उन्होंने एक मामले का उल्लेख किया। जिस पर जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक के अध्यक्ष राजकुमार रायजादा ने उसका खंडन किया। इसी बीच मंत्री गौरीशंकर बिसेन ने भी सांसद बोधसिंह भगत से गलत बाद नहीं कहने की बात कही। इस दौरान सांसद-मंत्री के बीच तीखी नोक-झोंक हो गई। मंत्री गौरीशंकर बिसेन ने जहां सांसद भगत को कहा कि बहुत देखे है ऐसे सांसद। वहीं इसके जवाब में सांसद ने भी मंत्री बिसेन को चोर मंत्री कह दिया। इसके बाद मंत्री गौरीशंकर बिसेन मंच छोड़कर चले गए। समारोह को जब मंत्री गौरीशंकर बिसेन संबोधित कर रहे थे, तभी एक भाजपा के कार्यकर्ता लखन बिसेन ने मलाजखंड को रोजगार नहीं दिए जाने की बात कही गई। जिसके बाद मंत्री बिसेन ने उस ग्रामीण को कार्यक्रम से बाहर किए जाने की बात कही। इसके बाद सांसद बोधसिंह भगत समारोह को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने अपने संबोधन में सबसे पहले उस भाजपा कार्यकर्ता का समर्थन किया, जिसमें उसने मलाजखंड के स्थानीय लोगों को रोजगार नहीं मिलने की बात कही थी। इसके बाद सांसद भगत ने यशोदा सीड्स नामक कंपनी के बीज के बिक्री होने का जिक्र किया। जबकि इस कंपनी के बीज पर प्रतिबंध लगाए जाने की बात कही। इसी बीच जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक के अध्यक्ष राजकुमार रायजादा ने भी इस कंपनी के बीज को प्रतिबंधित कर दिए जाने की बात कही। लेकिन सांसद ने कहा कि बाजार में आज भी इस कंपनी के बीज विक्रय हो रहा है। इसी बात को लेकर मंत्री और सांसद के बीच नोक-झोंक शुरु हो गई। कृषि मंत्री गौरीशंकर बिसेन व सांसद बोधसिंह भगत के बीच विवाद की स्थिति बढ़ती देख भाजपा जिला अध्यक्ष रमेश रंगलानी, सुरजीतसिंह ठाकुर समेत अन्य भाजपा के पदाधिकारी व कार्यकर्ता बीच-बचाव के लिए आए और मंत्री और सांसद को दूर-दूर कराकर मामले को शांत कराया। इसी बीच मंत्री कार्यक्रम छोड़कर चले गए। लेकिन मंच पर मंत्री व सांसद के बीच एक बार फिर से हुए विवाद से भाजपा के अंदर चल मतभेद खुलकर सामने आए हैं। कृषि मंत्री गौरीशंकर बिसेन ने कहा वे भारत सरकार के सांसद है, उन्हें सब कहने का अधिकार है। वो राज्य सरकार को कुछ भी बोल सकते है। रही बात कंपनी की तो अध्यक्ष राजकुमार रायजदा ने प्रतिबंध के कागज सौंपने की बात कहीं है। बालाघाट बीजेपी अध्यक्ष रमेश रंगलानी ने बताया कि मलाजखंड में आयोजित कार्यक्रम सबका साथ सबका विकास कार्यक्रम के दौरान सांसद व मंत्री के बीच हुई विवाद की स्थिति की जानकारी भोपाल स्तर पर भेज दी संगठन को भेज दी है। जांच के बाद निश्चित ही संगठन कार्रवाई करेगा।  सांसद बोध सिंह भगत ने कहा -बालाघाट जिले में यशोदा सीड्स कंपनी ने अमानक स्तर पर बीज की सप्लाई की थी, किसानों का बीज भी अंकुरित नहीं हो पाया था। पिछले साल इस कंपनी पर बैन लग गया था, लेकिन इस साल हटा दिया। इस मामले को लेकर मंच से किसानों को सावधान कराने का प्रयास किया था। इस बात पर कृषि मंत्री भड़क उठे और कार्यक्रम के दौरान हॉट-टॉक हो गई।

Dakhal News

Dakhal News 15 June 2017


कई राज्यों में आतंकी हमलों का अलर्ट

सीमा पर तनाव के बाद भारत में आतंकी हमले के अलर्ट से हड़कंप मच गया है। इंटैलीजैंस एजैंसियों ने उत्तर प्रदेश, हरियाणा, दिल्ली, पंजाब और गुजरात में आतंकी हमलों का अलर्ट जारी किया है। सूत्रों के अनुसार अलर्ट में साफ  कहा गया है कि कश्मीर में सुरक्षा बलों की सख्त कार्रवाई के बाद आतंकी संगठन बौखलाए हुए हैं। आतंकी यू.पी. समेत कई राज्यों के बड़े शहरों को अपना निशाना बना सकते हैं। अलर्ट के मुताबिक आतंकियों के दस्ते में आत्मघाती महिलाएं और पुरुष दोनों शामिल हैं। इंटैलीजैंस इनपुट के बाद यू.पी. पुलिस के आला अधिकारियों को सतर्कता बरतने की हिदायत दी गई है। दरअसल 21 जून को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के मौके पर पी.एम. नरेंद्र मोदी के लखनऊ में रहने की उम्मीद जताई जा रही है। यही कारण है कि यू.पी. पुलिस किसी भी तरह के खतरे को नजरअंदाज नहीं करना चाहती। लिहाजा भारी संख्या में पुलिस बल की तैनाती की जा रही है। बताते चलें कि 3 दिन पहले इंटैलीजैंस एजैंसियों ने सरहद पार से पंजाब के बमियाल सैक्टर के रास्ते भारत में 4 आतंकियों के दाखिल होने की सूचना पर अलर्ट जारी किया था। इंटैलीजैंस ने इसके पीछे पाकिस्तानी खुफिया एजैंसी आई.एस.आई. का हाथ बताया था।

Dakhal News

Dakhal News 14 June 2017


आतंकियों ने किये सात हमले

सुरक्षाबलों के लगातार बढ़ते दबाव और अपने कई साथियों के मारे जाने से हताश आतंकियों ने मंगलवार को कश्मीर घाटी में चार घंटे के भीतर ताबड़तोड़ सात हमले किए। हर जगह सुरक्षाबलों को निशाना बनाकर किए गए हमलों में सीआरपीएफ के नौ और पुलिस के चार जवान घायल हो गए। इन हमलों के बाद सुरक्षा एजेंसियों ने वादी में अलर्ट करते हुए सभी सुरक्षा शिविरों और थानों के अलावा जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग पर सुरक्षा कड़ी कर दी है। आतंकियों को मार गिराने के लिए देर रात कई जगह एक साथ विशेष अभियान छेड़ दिया गया। इस बीच हिजबुल मुजाहिदीन ने हमलों की जिम्मेदारी लेते हुए और हमलों की धमकी भी दी है। आतंकियों ने छह जगहों पर सुरक्षाबलों पर ग्रेनेड फेंके, जबकि अनंतनाग में पूर्व जज के मकान पर तैनात सुरक्षाकर्मियों पर हमला कर चार राइफलें लूट लीं। इससे पहले सोमवार रात भी त्राल में आतंकियों ने सीआरपीएफ के शिविर पर ग्रेनेड दागा था, जिसमें दो जवान जख्मी हो गए थे। दक्षिण कश्मीर के जिला पुलवामा के त्राल में आतंकियों ने लाडीयार गांव में सीआरपीएफ की 180वीं वाहिनी की एफ कंपनी के शिविर पर ग्रेनेड दागा, जिसमें नौ जवान जख्मी हो गए। घायलों को श्रीनगर स्थित सेना के बेस अस्पताल में भर्ती कराया गया है, जहां चार की हालत गंभीर बताई जा रही है। आतंकियों ने पडगामपोरा (पुलवामा) में सीआरपीएफ की 130वीं वाहिनी के शिविर पर ग्रेनेड हमला किया, जिसमें कोई नुकसान नहीं हुआ। आतंकियों ने पुलवामा पुलिस स्टेशन पर ग्रेनेड दागा, जो थाने की बाहरी दीवार के साथ टकराकर फटा। इस हमले में दो पुलिसकर्मी घायल हो गए। दक्षिण कश्मीर के जिला अनंतनाग के सरनल (पहलगाम) में भी आतंकियों ने सीआरपीएफ के शिविर पर ग्रेनेड हमला किया। इस हमले में कोई नुकसान नहीं हुआ। आतंकियों ने दक्षिण कश्मीर के आंचीडूरा (अनंतनाग) में जम्मू-कश्मीर उच्च न्यायालय के पूर्व न्यायाधीश मुजफ्फर हुसैन अत्तर के मकान पर तैनात सुरक्षाकर्मियों पर हमला किया। इसमें दो पुलिसकर्मी घायल हो गए। आतंकी जाते समय पुलिसकर्मियों की चार राइफलें भी लूट ले गए। हमले के समय मुजफ्फर हुसैन मकान में मौजूद नहीं थे। हमलावर आतंकियों की संख्या सात से आठ बताई जा रही है। सूत्रों के अनुसार वहां तैनात चार में से दो सुरक्षाकर्मी मौजूद नहीं थे। उन दोनों को निलंबित कर दिया गया है। उत्तरी कश्मीर के पजलपोरा (सोपोर) स्थित सेना की 22 आरआर के शिविर पर आतंकियों ने स्वचालित हथियारों से फायरिंग की। गेट पर तैनात जवानों ने त्वरित जवाबी कार्रवाई कर आतंकियों के मंसूबों को नाकाम बना दिया। जवाबी फायरिंग होते ही आतंकी अंधेरे में भाग निकले। उत्तरी कश्मीर के डीआइजी नीतीश कुमार ने कहा कि आतंकियों ने यहां यूबीजीएल से ग्रेनेड हमला किया त्राल के लुरगाम क्षेत्र में आतंकियों ने सेना की 42 आरआर के शिविर पर यूबीएल से ग्रेनेड हमला किया, लेकिन कोई नुकसान नहीं हुआ। क्षेत्र में आतंकियों की तलाश की जा रही है। पुलिस अधिकारियों ने कहा कि उन्हें इनपुट मिले थे कि आतंकी कश्मीर में कोई बड़ा हमला कर सकते हैं, लेकिन सुरक्षाबलों की कड़ी सुरक्षा व घेराबंदी का ही नतीजा है कि आतंकी अपने नापाक मंसूबे में कामयाब नहीं हुए और उन्होंने कई जगह सांकेतिक हमले कर हताशा का परिचय दिया।  

Dakhal News

Dakhal News 14 June 2017


मोदी -ट्रम्प

  अमेरिका में नये प्रशासन के कार्यभार संभालने के बाद अपनी पहली अमेरिका यात्रा के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 26 जून को राष्टपति डोनाल्ड ट्रम्प के साथ एच1बी वीजा में संभावित बदलावों को लेकर भारत की चिंताओं समेत विभिन्न मुद्दों पर चर्चा करेंगे. विदेश मंत्रालय ने प्रधानमंत्री की 25 जून से शुरू होने वाली अमेरिका यात्रा की घोषणा करते हुए कहा कि मोदी-ट्रम्प के बीच बातचीत गहरे द्विपक्षीय संबंधों को नई दिशा प्रदान करेगी. मंत्रालय ने कहा कि दोनों नेताओं के बीच यह पहली बैठक होगी. वाशिंगटन में व्हाइट हाउस के प्रेस सचिव सीन स्पाइसर ने कहा, ट्रम्प 26 जून को मोदी के साथ मुलाकात करने और द्विपक्षीय संबंधों को हमारी साझी प्राथिमकताओं, आतंकवाद का मुकाबला करने, आर्थिक प्रगति को बढ़ावा देने तथा सुधार एवं हिंद-प्रशांत क्षेत्र में सुरक्षा सहयोग का विस्तार के उपायों पर चर्चा करने को उत्सुक हैं. स्पाइसर ने कहा, राष्ट्रपति ट्रम्प और प्रधानमंत्री मोदी भारत और अमेरिका की उस साझोदारी के लिए साझा दृष्टिकोण पेश करेंगे जो 1.6 अरब नागरिकों के लिए है. भारतीय विदेश मंत्रालय ने कहा, प्रधानमंत्री 26 जून को राष्ट्रपति ट्रम्प के साथ आधिकारिक वार्ता करेंगे. उनकी चर्चा पारस्परिक हित के मुद्दों पर गहरे द्विपक्षीय संबंधों और भारत और अमेरिका के बीच बहुआयामी रणनीतिक भागीदारी को मजबूत बनाने के लिए नयी दिशा प्रदान करेगी. पिछले सप्ताह अपने वार्षिक संवाददाता सम्मेलन के दौरान विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने कहा था कि मोदी ट्रम्प के समक्ष मुद्दे को उठाएंगे. पाक प्रायोजित आतंकवाद और अन्य अंतरराष्ट्रीय मुद्दों समेत क्षेत्रीय सुरक्षा स्थिति पर दोनों नेताओं के बीच बैठक के दौरान प्रमुखता से चर्चा होने की उम्मीद है. व्यापार बढ़ाने और व्यापारिक सहयोग को बढ़ाने के अलावा दोनों नेताओं के रक्षा संबंधों पर भी चर्चा करने की उम्मीद है. अमेरिकी रक्षा मंत्री जेम्स मैटिस ने पहले ही साफ कर दिया है कि उनका देश भारत को बड़े रक्षा भागीदार के तौर पर मानता है. मैटिस ने कहा था कि अमेरिका नई चुनौतियों के साथ-साथ समुद्री सुरक्षा से लेकर दक्षिण पूर्व एशिया में आतंकवाद के प्रसार से बढ़ती चुनौतियों से निपटने के लिए नए तरीके तलाश रहा है. मोदी की यात्रा पेरिस जलवायु समझौते से अमेरिका के हटने की ट्रम्प की घोषणा की पृष्ठभूमि में हो रही है. ट्रम्प ने कहा था, भारत इसमें अपनी भागीदारी को विकसित देशों से अरबों अरब डॉलर मिलने पर निर्भर बनाता है. ट्रम्प के दावों को खारिज करते हुए भारत ने कहा था कि उसने पेरिस समझौते पर हस्ताक्षर दबाव में या धन के लालच में नहीं किया था बल्कि पर्यावरण की रक्षा को लेकर अपनी प्रतिबद्धता की वजह से किया था  

Dakhal News

Dakhal News 13 June 2017


यूपी में हो सकता है हमला

खुफिया एजेंसी आईबी ने उत्तर प्रदेश में बड़े आतंकी हमले को लेकर एक अलर्ट जारी किया है. सूत्रों की मानें तो आईबी ने राज्य की पुलिस को अलर्ट किया है कि सरहद पर हुई कार्रवाई के बाद आतंकी दिल्ली, गुजरात, उत्तर प्रदेश और हरियाणा में आतंकवादी सुसाइड बम से हमले को अंजाम दे सकते हैं. सूत्रों के मुताबिक, अलर्ट में किसी जगह या तारीख का जिक्र नहीं है, साथ ही किसी आतंकी संगठन का भी उल्लेख नहीं किया गया है. लेकिन यह जरूर कहा गया है कि ये आतंकी हमले में सुसाइड बम का इस्तेमाल कर सकते हैं. आईबी अलर्ट के बाद डीजीपी कार्यालय ने सार्वजनिक स्‍थानों की सुरक्षा बढ़ाने के निर्देश दिए हैं. इन निर्देशों में शॉपिंग माल, सिनेमाघर, बस स्टैंड, रेलवे स्टेशन और भीड़भाड़ वाले इलाकों में विशेष सर्तकता बरतने को कहा गया है. सूत्रों का कहना है कि कश्मीर में आतंकियों के खिलाफ भारतीय सेना कार्रवाई से वे बौखलाए हुए हैं. ऐसे में वे किसी बड़ी वारदात को अंजाम दे सकते हैं. पिछले दिनों हिजबुल मुजाहिदीन के पूर्व कमांडर और अब अलकायदा में शामिल हो चुका आतंकी जाकिर मूसा ने ऑडियो जारी किया था. ऑडियो में बिजनौर में एक महिला के साथ चलती ट्रेन में हुए कथित रेप और गौ रक्षा के नाम पर हो रही घटनाओं का जिक्र करते हुए बदला लेने की बात कही थी.

Dakhal News

Dakhal News 13 June 2017


rajsthan kisan andolan

हार्दिक ने फूंका किसान आंदोलन का बिगुल मध्यप्रदेश के बाद अब राजस्थान में भी किसान आंदोलन की धार तेज होती जा रही है। किसानों की समस्याओं को लेकर अलग-अलग किसान संगठनों और गुजरात पाटीदार आंदोलन के संयोजक हार्दिक पटेल ने राजस्थान में किसान आंदोलन का बिगुल फूंका है। वहीं कांग्रेस की ओर से 14 जून को प्रदेश के 14 जिलों में किसानों की मांगों के समर्थन में धरना दिया जाएगा। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सचिन पायलट ने बताया कि किसानों की कर्ज माफी और उपज का समर्थन मूल्य बढ़ाने की मांग को लेकर धरना दिया जाएगा। राष्ट्रीय किसान महा पंचायत के आह्वान पर रविवार को राज्य में सात जिलों के गांव बंद रहे। इस दौरान गांवों से न तो दूध बाहर निकला और न ही सब्जी और अनाज बाहर भेजे गए। गांवों से शहरों में दूध, सब्जी, अनाज की आपूर्ति रोक दी गई। राष्ट्रीय किसान महापंचायत के अध्यक्ष रामपाल जाट ने बताया कि रविवार को बाड़मेर, चित्तौड़गढ़, सीकर, अलवर, जयपुर, जोधपुर और टोंक के गांव पूरी तरह से बंद रहे। उन्होंने कहा कि राज्य के शेष 26 जिलों में अगले तीन दिन में चरणबद्ध रूप से गांव बंद रहेंगे। इसके बाद राज्य के किसान मंदसौर कूच करेंगे। इधर गुजरात पाटीदार आंदोलन के संयोजक एवं पटेल नव निर्माण सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष हार्दिक पटेल सोमवार को उदयपुर के नामरी गांव में किसान सम्मेलन को संबोधित करेंगे।  

Dakhal News

Dakhal News 12 June 2017


टॉय गन पर रोक

  खबर कराची से। पाकिस्तान में बच्चों की खिलौना बंदूक (टॉय गन) भी अजीब समस्या बन गई है। अपराधी असली हथियारों के साथ इन खिलौनों का इस्तेमाल करके अपराध को अंजाम देते हैं और उन्हें फेंककर भाग जाते हैं। पुलिस ऐसे अपराधियों के खिलाफ कुछ खास कर नहीं पाती है। इसके चलते सिंध प्रांत में टॉय गन की बिक्री पर दो महीने के लिए प्रतिबंध लगा दिया गया है। देश के प्रमुख व्यापारिक शहर कराची के बोल्टन मार्केट और चकीवाड़ा इलाके में पुलिस ने छापेमारी करके हजारों की संख्या में टॉय गन जब्त की हैं। दोनों इलाकों से 22 बड़े कारोबारियों को गिरफ्तार किया गया है। ईद के मौके पर इन टॉय गन की बिक्री सड़क के किनारे लगने वाली दुकानों पर भी होने लगती है। परिणामस्वरूप चंद रोज में ही हजारों टॉय गन बिक जाती हैं। इनमें से कुछ गन का इस्तेमाल अपराधी भी करने लगते हैं। सूत्रों के अनुसार प्रतिबंध की एक वजह समाज में गन कल्चर को बढ़ावा देने से रोकना भी है। बच्चे खेल में गन का इस्तेमाल करते हुए उनके साथ रहने के अभ्यस्त हो जाते हैं जो आदत बड़े होने पर उन्हें हिंसक बनाने में मदद करती है।  

Dakhal News

Dakhal News 12 June 2017


gandhi chatur baniya

भाजपा अध्यक्ष अमित शाह शनिवार को रायपुर में महात्मा गांधी पर अपने बयान चतुर बनिए पर सफाई देते हुए कहा, सबको पता है कि मैंने किस संदर्भ में कहा था। लोग मेरे मेरे बयान का गलत मतलब निकाल रहे हैं।राष्ट्रपति चुनाव को लेकर भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि राष्ट्रपति उम्मीदवार को लेकर अभी फैसला नहीं हुअा। इसके अलावा उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ में रमन सरकार ने बहुत अच्छा काम किया है, इसलिए आने वाले विधानसभा चुनाव में भाजपा शानदार प्रदर्शन कर फिर सरकार बनाएगी। उन्होंने दावा किया कि विधानसभा चुनाव में भाजपा 65 से ज्यादा सीटें जीतेगी। गौरतलब है कि भाजपा अध्यक्ष अमित शाह बीते तीन दिन से छत्तीसगढ़ दौरे पर हैं। इन तीन दिनों में प्रदेश भाजपा के आला नेताओं के अलावा विधायकों और सांसदों से मुलाकात की। तीन दिनों की यात्रा के बाद शनिवार को प्रेस वार्ता में अमित शाह ने कहा कि छत्तीसगढ़ सरकार ने हर स्तर पर बेहतर काम किया है इसलिए हम सरकार के काम को जनता के बीच लेकर जाएंगे और चौथी बार छत्तीसगढ़ में फिर भाजपा की सरकार बनाएंगे। इससे पहले शुक्रवार को रायपुर में अमित शाह ने महात्मा गांधी पर बड़ा बयान देते हुए कहा था कि वे दूरदर्शी होने के साथ-साथ एक चतुर बनिया थे। उन्हें मालूम था कि आगे क्या होने वाला है, उन्होंने आजादी के बाद कहा था, कांग्रेस को बिखेर देना चाहिए। शाह यही नहीं रुके उन्होंने कहा कि महात्मा गांधी ने कांग्रेस को खत्म करने का काम नहीं किया, लेकिन अब कुछ लोग उसको बिखेरने का काम कर रहे हैं। संगठन के इस कार्यक्रम में उन्होंने कहा कि महात्मा गांधी ने कहा था कि क्योंकि कांग्रेस की कोई विचारधारा ही नहीं है, देश चलाने के, सरकार चलाने के कोई सिद्धांत ही नहीं थे। रायपुर मेडिकल कॉलेज प्रेक्षागृह में शाह ने कहा कि दुनिया की सबसे बड़ी राजनीतिक पार्टी होने का दावा करने वाली भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष का कहना है कि पार्टी में आंतरिक लोकतंत्र है, इसीलिए एक साधारण चाय बेचने वाला देश का प्रधानमंत्री है और एक सामान्य कार्यकर्ता राष्ट्रीय अध्यक्ष। भाजपा (जनसंघ) का उदय राष्ट्रवाद के सिद्धांत पर हुआ है। यही वजह है कि हमारे लिए देश सर्वोपरि है।  

Dakhal News

Dakhal News 10 June 2017


शिवसेना

  देश के अगले राष्ट्रपति के लिए लगातार आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत के नाम की वकालत कर रही शिवसेना ने आज कहा कि राष्ट्रपति भवन में ‘हिंदुत्व का रबर स्टांप’ होना चाहिए। भाजपा की सबसे पुरानी सहयोगी शिवसेना ने कहा कि देश को आज ऐसे व्यक्ति की जरूरत है जो इसके भविष्य को ‘हिंदू राष्ट्र’ के रूप में आकार दे सके और जो ‘राम मंदिर’ और ‘अनुच्छेद 370’ जैसे विषयों का हल निकाल सके।  शिवसेना के मुखपत्र ‘सामना’ में लिखे एक संपादकीय में कहा गया कि अभी तक धर्मनिरपेक्ष सरकारों के ‘रबर स्टांप’ ही राष्ट्रपति भवन में रहे हैं। शिवसेना ने बार-बार कहा कि देश के सर्वोच्च पद के लिए उसकी पसंद संघ प्रमुख भागवत हैं। हालांकि भागवत कह चुके हैं कि उन्हें राष्ट्रपति पद में कोई रुचि नहीं है। पिछले दो राष्ट्रपति चुनावों में भाजपा से अलग रास्ता अपनाती रही शिवसेना ने वीरवार को कहा था कि वह राष्ट्रपति चुनाव में ‘स्वतंत्र’ रुख अपना सकती है। राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी की प्रशंसा करते हुए शिवसेना ने लिखा कि उनके और डा. ए पी जे अब्दुल कलाम जैसे लोगों ने पद की गरिमा को बनाए रखा है।

Dakhal News

Dakhal News 9 June 2017


जीडीपी खेती-किसानी

उमेश त्रिवेदी पहले भी हम लिखा-पढ़ा और सुना करते थे और आज भी करते हैं कि भारत कृषि प्रधान देश है और अस्सी करोड़ से ज्यादा लोग देहातों में बसते हैं। अर्थ व्यवस्था में इसके योगदान की चर्चा करें तो पाएंगे कि जीडीपी में खेती-किसानी का योगदान 14-15 प्रतिशत है। आजादी के पहले 10-20 वर्षों में जब लोग ताजा-ताजा गांवों को छोड़ कर शहरों में रोटी-रोजगार के लिए आए थे, तब गुरबत-बदहाली के बावजूद अपने-अपने देहातों के साथ एक अजीबोगरीब रूमानियत भरा रिश्ता महसूस होता था। सांझ-सकारे, अम्मा-दादी और नाना-बाबा के किस्सों में रोजाना अपने गांव और ओटलों से रूबरू होना जिंदगी का हिस्सा था। लेकिन गांवों के साथ यह हिस्सेदारी अब खत्म हो चली है, रूमानियत मिटने लगी है, क्योंकि खेतों का स्वभाव बदलने लगा है, जमीन में पथरीलापन और पगडंडियों में कांटे उगने लगे हैं।   प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी कहते हैं कि देश बदल रहा है... हमारे मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान कहते हैं कि मेरे गांव बदल रहे हैं, लेकिन यदि महाकवि नागार्जुन के चूल्हे-चक्की के पुराने प्रतीकों को छोड़ दिया जाए तो देहातों में किसानों के हालात आज भी वैसे ही हैं,  जैसे कि उन्होंने  करीब पचास साल पहले अपनी कविता ''अकाल और उसके बाद'' में बयां किए थे। किसान और उसकी झोपड़ी की मनोदशाओं के शब्द-चित्र को उकेरते हुए उन्होंने लिखा था कि- 'कई दिनों तक चूल्हा रोया, चक्की रही उदास, कई दिनों तक काली कुतिया सोई उसके पास, दाने आए घर के भीतर कई दिनों के बाद, धुंआ उठा आंगन के ऊपर कई दिनों के बाद... चमक उठी घर भर की आंखें कई दिनों के बाद, कौए ने खुजलाई पांखें कई दिनों के बाद...।'  सरकार के राजनीतिक-कारोबार में दिन दूनी रात चौगुनी वृध्दि के अलावा हिन्दुस्तान के देहातों में गुरबत और गरीबी के हालात वैसे ही हैं, जैसे कि बाबा नागार्जुन ने शब्दों में पिरोए हैं। यह राजनीतिक-कारोबार भी किसानों की तकलीफों का सबसे बड़ा कारक है, जो किसानों का इस्तेमाल करके उन्हें कूड़े में फेंक देता है।     नागार्जुन के किसानों का यह शब्द-चित्र जहन को एकाएक इसलिए कुरेदने लगा कि मध्य प्रदेश के मंदसौर जिले में गोलीबारी से मारे गए किसानों को असामाजिक तत्व कह कर दुत्कारा जा रहा है, अथवा उनकी वेशभूषा के आधार पर नकारा जा रहा है। गांवों में किसानों की वेश-भूषा के अलावा कुछ नहीं बदला है... किसान अभी भी एक चाबुक से, एक साथ हंकाली जाने वाली, वही पुरानी निरीह भेड़ों के झुण्ड समान हैं, जिनके बालों को नोचना पहले जमींदारी और साहूकारी व्यवस्था का अंग था, अब उन्हें लहूलुहान करना सरकारी राजतंत्र का कर्तव्य है।  मुंशी प्रेमचंद के 'होरी' ने मैली-कुचैली, फटी-पुरानी बंडी-धोती के बदले टी-शर्ट और जींस-पेंट्स को धारण करना शुरू कर दिया है। उसके वेश बदलने के यह मायने नहीं है कि उनका सामाजिक परिवेश भी बदल गया है। बदलाव मार्केट की मजबूरी का सबब है। बंडी अब मिलती नहीं है और जींस-पेंट धोती से सस्ती हैं। बकौल नागार्जुन उनके 'आस-पास जमींदार हैं, साहूकार हैं, बनिया हैं, व्यापारी हैं...। अन्दर-अन्दर विकट कसाई, बाहर खद्दरधारी हैं...। बदहाली और शोषण की व्यवस्था के दुष्चक्र की कहानी पहले होल्डर-दवात से लिखते थे, अब उसके बदले पारकर, मॉण्टब्लां जैसे सोने की निब वाले पेन आ गए हैं।  उधारी का चक्रव्यूह आज भी बरकरार है। चैत में उसके खेत-खलिहानों में रखे गेहूं-चने की रौनक बमुश्किल एक पखवाडे में साल भर की उधारी चुकाने में   भाप जैसी उड़ जाती है। किसान कपडे-लत्ते समेट रोजमर्रा की जिंदगी में काम आने वाली हर चीज साल भर की उधारी पर महंगे भाव में लेता है। साल भर की उधारी का ब्याज भी उसी के खाते से जाता है। चैत में पहली फुर्सत में गेहूं-चना बेचकर यह उधारी चुकाना उसकी नियति है। दिसम्बर 2016 में केन्द्र सरकार ने राज्यसभा में बताया था कि देश में 9 करोड़ किसान-परिवारों में से करीब पौने पांच करोड़ परिवार कर्जदार हैं।   गांव और खेत-खलिहान उधारी के महाजनी-चरित्र से मुक्त नहीं हो पाए हैं। चक्रवृध्दि ब्याज की चाबुक किसानों की खाल उधेड़ती रहती है। पहले महाजन खेतों में खड़ी फसल कटवा लेता था, आजकल बैंकों की ओर से वसूली करने वाले दबंग दादा-पहलवान खेतों में ऱखे ट्रॉली-ट्रेक्टर और मोटर सायकल उठा ले जाते हैं। सरकारी एजेंसियों की घटिया कीटनाशक दवाएं, रासायनिक खाद और बीज की शिकायतें पहले की तरह अनसुनी रह जाती हैं। साल में बारहों महीने खाली हाथ रहना किसानों की सबसे बड़ी विडम्बना है।  राजनीतिक भ्रष्टाचार और दुराव के कारण किसान आज भी दुरवस्था के घेरे में खड़े हैं। अभी तक दुरवस्था की आंच मध्य प्रदेश का गांवों तक नहीं पहुंची थी, लेकिन मंदसौर में 6 किसानों की मौत के बाद चेतावनी का बिगुल मध्य प्रदेश में भी बज चुका है।

Dakhal News

Dakhal News 9 June 2017


rahul gandhi

  मध्यप्रदेश की सीमा में घुसने के बाद कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी को नीमच पुलिस ने शांति भंग करने के आरोप में हिरासत में ले लिया। वे बाइक से मंदसौर जाने की कोशिश कर रहे थे और पुलिस को चकमा देकर 2 किमी अंदर तक आ गए थे। जेल वाहन से उन्हें विक्रम गेस्ट हाउस में बनाई गए अस्थाई जेल ले जाया गया। इनके साथ कमलनाथ, सचिन पायलट, दिग्विजय सिंह और शरद यादव को भी हिरासत में लिया है। इस दौरान राहुल की पुलिस के साथ झड़प भी हुई। उनके साथ मौजूद कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने पुलिस द्वारा रोके जाने का विरोध किया। राहुल गांधी ने ट्वीट कर कहा कि मैं सिर्फ किसानों के परिवारों से मिलना चाहता था, उनकी बात सुनना चाहता था। कोई कारण नहीं दिया बस कहा कि गिरफ्तार कर रहे हैं। उन्होंने कहा मोदीजी किसानों का कर्ज नहीं माफ कर सकते, सही रेट और बोनस नहीं दे सकते, मुआवजा नहीं दे सकते, सिर्फ किसान को गोली दे सकते हैं। इस बीच मंदसौर में मृत किसानों के परिजनों को लेकर कांग्रेस नेता विक्रम गेस्ट हाउस पहुंचे और उन्हें राहुल गांधी से मिलने की मांग करने लगे। कुछ देर बाद प्रशासन और पुलिस ने उन्हें अंदर जाने की इजाजत दे दी। जिसके बाद वे कांग्रेस उपाध्यक्ष से मिलने विक्रम गेस्ट हाउस में पहुंचे। एसपीजी ने जेल के वाहन में राहुल गांधी को गेस्ट हाउस ले जाने पर आपत्ति ली, उनका कहना था कि राहुल की जान को खतरा हो सकता है। लेकिन पुलिस ने उनकी बात नहीं मानी। कमलनाथ ने कहा कि हम यहां राजनीति करने नहीं आए थे, केवल मृत किसानों के परिवारों से मिलना चाहते थे। लेकिन बिना बताए गिरफ्तार कर लिया। जेडीयू के शरद यादव की भी पुलिस से झड़प हो गई, उन्होंने कहा कि मैं लोकसभा में सांसद हूं, बिना कारण बताए आप लोग मुझे गिरफ्तार नहीं कर सकते। वे पहले उदयपुर पहुंचकर कार से मंदसौर के लिए निकले थे, लेकिन रास्ते वे पुलिस को चकमा देने के लिए बाइक पर बैठकर निकल गए। बाइक कांग्रेस विधायक जीतू पटवारी चला रहे थे, उनके पीछे सचिन पायलट भी बाइक पर आए। सुरक्षा के मद्देनजर मध्यप्रदेश पुलिस ने राजस्थान की सीमा से लगे सभी रास्तों को सील कर दिया। इस बीच मंदसौर गोलीकांड को लेकर सरकार ने मंदसौर कलेक्टर स्वतंत्र कुमार सिंह और एसपी ओपी त्रिपाठी को हटा दिया है।  

Dakhal News

Dakhal News 8 June 2017


petrol

भारत की तेल विपणन कंपनियां अब देशभर में रोजाना पेट्रोल की कीमतों की समीक्षा करेंगी। यह नई व्यवस्था 16 जून, 2017 से प्रभावी होगी। यह जानकारी पेट्रोलियम एवं नेचुरल गैस मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारी ने दी है। देशभर में एक मई से पुडुचेरी, विशाखापट्नम, उदयपुर, जमशेदपुर और चंडीगढ़ में पेट्रोल-डीजल के लिए शुरू की गई दैनिक समीक्षा के पायलट प्रोजेक्ट में सफलता मिलने के बाद यह फैसला लिया गया है। भारत पैट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड (बीपीसीएल), इंडियन ऑयल कॉर्प (आईओसी) और हिंदुस्तान पैट्रोलियम कॉर्प लिमिटेड (एचपीसीएल) की यह मांग थी कि रोजाना पेट्रोल-डीजल की कीमतें तय की जाएं। आपको बता दें कि इन तीनों तेल कंपनियों के देश में कुल पेट्रोल पंप में से 95 फीसद की हिस्सेदारी रखते हैं। देश में कुल 58000 पेट्रोल पंप हैं। मौजूदा समय में देश की तीन ऑयल कंपनियां इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन, भारत पेट्रोलियम तथा हिंदुस्तान कॉरपोरेशन हर 15 दिन में तेल कीमतों की समीक्षा करती हैं। इसके आधार पर पेट्रोल-डीजल की रिटेल कीमत तय की जाती है। तेल कंपनियों की ओर से पांच राज्यों में यह पायलट प्रोजेक्ट इसलिए शुरू किया गया था ताकि वैश्विक कच्चे तेल की कीमतों में उतार-चढ़ाव में खुद को ढाला जा सके। इन तीन कंपनियों की फ्यूल रिटेल मार्केट में कुल मिलाकर 90 फीसद से ज्यादा की हिस्सेदारी है। इस तरह यह कंपनियां व्यावहारिक रूप से ईंधन मूल्य निर्धारण में मानदंड स्थापित करती हैं। माना जा रहा है कि रिलायंस इंडस्ट्रीज और एस्सार ऑयल भी इन्हीं का अनुसरण कर सकती हैं। दुनिया के कई विकसित देशों में तेल कंपनियां रोजाना कीमतों की समीक्षा करती हैं। इसे डायनेमिक फ्यूल प्राइसिंग कहा जाता है।रोजाना पेट्रोल और डीजल की कीमतों की समीक्षा कच्चे तेल की कीमतों पर निर्भर करती हैं। इस फैसले से तेल कंपनियां रिटेल प्राइस को कच्चे तेल की कीमतों के आसपास रख सकेंगी। साथ ही इससे घाटा कम करने में भी मदद मिलेगी।

Dakhal News

Dakhal News 8 June 2017


kisan hatya

मध्यप्रदेश के मंदसौर में प्रदर्शनकारी किसानों पर हुई गोलीबारी की घटना के बाद हुई छ किसानों की मौतों से नाराज प्रदर्शनकारियों ने आज मंदसौर कलेक्टर के साथ मारपीट और झूमाझटकी की। कलेक्टर मंदसौर स्वतंत्र कुमार सिंह स्टेट हाईवे पर शव रखकर प्रदर्शन करने वालों को समझाईश देने के लिए एसपी ओपी त्रिपाठी के साथ पहुंचे थे, तब उन पर आक्रोशित भीड़ ने हमला किया। बाद में उन्हें वहां से हटाया गया। इधर मंदसौर में प्रदर्शनकारियों ने जगह-जगह चक्काजाम कर रखा है। कर्फ्यू के बाद भी लोग हटने को तैयार नहीं हैं। कल हुई गोलीबारी की घटना में मंदसौर बरखेड़ा पंथ गांव के तीन किसानों की मौत हुई थी। इसमें से एक 11 साल का छात्र अभिषेक सिंह भी है। इससे गांव वालों में आक्रोश और बढ़ गया और एक किसान ने कलेक्टर को थप्पड़ मार दिया। कुछ लोगों ने दूर तक कलेक्टर का पीछा भी किया। एसपी के साथ भी झूमाझटकी हुई है और बीजेपी के पूर्व विधायक राधेश्याम पाटीदार को जमकर पीटा और उनकी गाड़ी में आग लगा दी। कलेक्टर, मंदसौर स्वतंत्र कुमार सिंह ने बताया मंदसौर और पिपलिया मंडी में कर्फ्यू लगा है। मंदसौर में हाईवे पर प्रदर्शनकारियों द्वारा शव रखकर चक्काजाम किया जा रहा है जिसे हटाने के लिए समझाईश देने की कोशिश की जा रही है। प्रदर्शन के मामले में 25-30 लोगों की गिरफ्तारी भी की गई है। गोलीचालन के बाद आज भी किसानों का प्रदर्शन उग्र रूप लिए रहा। आंदोलनकारी किसानों ने रूई के एक गोदाम में आग लगा दी तो सड़क के किनारे खड़े वाहनों को भी आग के हवाले कर दिया। पिपल्या मंडी में टोल नाके पर भी आंदोलनकारियोंं के कब्जे की खबर है। जानकारी के मुताबिक आज सुबह हजारों किसान बरखेड़ापंथ गांव में जमा हुए थे। मृतकों के अंतिम संस्कार से लौट रही भीड़ ने पिपल्या मंडी के टोल नाके पर कब्जा कर लिया और नाके के पास खड़े वाहनों में आग लगा दी। यहां प्रदर्शनकारियों ने पुलिस पर भी पथराव किया। इधर, इंदौर और भोपाल के मिसरौद में  भी किसानों ने उग्र प्रदर्शन किया। किसानों ने सरकार का पुतला फूंका और चक्काजाम कर तोड़फोड़ की। मंदसौर गोलीकांड में 6 किसानों की मौत के बाद प्रदेश बंद के आह्वान का सबसे ज्यादा असर मालवा क्षेत्र में दिखाई दिया बाकि भी प्रदेश के कई इलाकों में बंद शांतिपूर्ण रहा । इंदौर, उज्जैन, शाजापुर, राजगढ़, देवास, रतलाम में प्रदर्शनकारी सड़कों पर नजर आए और जगह-जगह चक्काजाम और तोड़फोड़ की खबर मिल रही है। प्रमुख शहर जबलपुर, ग्वालियर, रीवा, सागर, उज्जैन में भी किसान प्रदर्शन जारी है। कलेक्टर स्वतंत्र कुमार के बयान से सरकार यह दावा खोखला साबित हुआ है कि आंदोलनकारियों पर पुलिस अथवा सीआरपीएफ ने नहीं बल्कि उपद्रवियों ने गोली चलाई है। कलेक्टर स्वतंत्र कुमार आज उत्तेजित ग्रामीणों को यह समझाने की प्रयास कर रहे थे कि गोलियों प्रशासन के कहने पर नहीं चलाई गर्इं। लेकिन इतना सुनने के बाद किसान और भड़क गए। विवाद बढ़ता देख कलेक्टर को अलग ले जाया जाने लगा इसी दौरान एक किसान ने कलेक्टर को पीछे से थप्पड़ मार दिया। इसके बाद कलेक्टर  स्वतंत्र सिंह ने कहा कि गोली चलाए जाने को लेकर टीआई पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी।   इधर, राष्ट्रीय किसान मजदूर संघ के नेता शिवकुमार शर्मा कक्काजी ने इंदौर में पत्रकारों से चर्चा में आरोप लगाया है कि सरकार किसानों की हत्या पर आमादा थी, यही वजह है कि किसानों की छाती और पीठ पर गोली मारी गई। शिवकुमार शर्मा ने आरोप लगाया कि सरकार में अफसरशाही पूरी तरह हावी है, 12 अफसर पूरी सरकार को चला रहे हैं। उन्होंने इन अफसरों पर भ्रष्टाचार के भी आरोप जड़े। उन्होंने कहा कि दस जून से किसान पूरे प्रदेश में जेल भरो आंदोलन करेंगे। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आज कृषि कैबिनेट में फैसला लिया है कि किसानों के हित के लिए कृषि लागत और विपणन आयोग बनाएंगे। इसमें लागत मूल्य पर 50% अधिक कीमत पर किसानों की उपज खरीदी जाएगी। इसके साथ ही तुअर और मूंग की खरीदी के लिए तय की गई कीमत के आधार पर 10 जून से खरीदी करने का फैसला हुआ। बैठक में किसानों की कर्जमाफी पर भी चर्चा हुई इसके लिए सरकार किसानों के लिए समाधान योजना शुरू करने का विचार कर रही है। इसके तहत कर्ज न चुका पाने वाले किसानों का एक बार ब्याज माफ किया जाएगा। मंदसौर गोलीकांड ने केंद्र सरकार को भी परेशानी में डाल दिया है। केंद्रीय मंत्री वैंकेया नायडू ने गोलीकांड को बड़ी साजिश करार देते हुए इसके पीछे कांग्रेस का हाथ बताया है। नायडू ने कहा किसान कभी हिंसक नहीं होता। आंदोलन में कुछ आसमाजिक तत्व शामिल हो गए हैं। कांग्रेस के पास कोई मुद्दा नहीं है। कांग्रेस के राज्यसभा सांसद विवेक तन्खा ने कहा है कि सरकार ने किसानों पर गोलियां चलवाई हैं। तन्खा ने कहा कि वे गोलीकांड के लिए सरकार और प्रशासन के जिम्मेदार अफसरों और नेताओं के खिलाफ हत्या का मुकदमा दायर करवाएंगे। उन्होंने कहा आंदोलनकारी किसानों पर गोली चलाना सीधे उनकी हत्या करने जैसा है। पूर्व केंद्रीय मंत्री कमलनाथ ने आज दिल्ली में कहा कि शांतिपूर्ण अहिंसक आंदोलन पर सरकार और प्रशासन लाठियां और गोलियां बरसाकर दमन करने पर उतारू है। इससे खुद को किसान पुत्र कहने वाले शिवराज सिंह का चेहरा बेनकाब हो गया है। शिवराज जवाबदेही लेने के बजाए कांग्रेस पर आरोप लगा रही है।

Dakhal News

Dakhal News 7 June 2017


 पाकिस्तान बड़ा खतरा है

खबर वॉशिंगटन से । तालिबान एवं हक्कानी नेटवर्क के लिए पाकिस्तान अब भी पनाहगाह बना हुआ है और वह एक सहयोगी होने की बजाय खतरा अधिक है। यह दावा अमेरिका के एक प्रमुख थिंक टैंक सेंटर फॉर स्ट्रैटिजिक ऐंड इंटरनेशनल स्टडीज ने किया है। थिंक टैंक ने इस बात पर जोर दिया कि ट्रंप प्रशासन को इस्लामाबाद को यह स्पष्ट करना चाहिए कि यदि वह तालिबान एवं हक्कानी नेटवर्क को समर्थन देना जारी रखता है तो उसे प्रतिबंधों का सामना करना पड़ेगा। सेंटर फॉर स्ट्रैटिजिक ऐंड इंटरनैशनल स्टडीज (सीएसआईएस) ने एक रिपोर्ट में कहा कि अफगानिस्तान संघर्ष, और अपनी सैन्य, राजनीतिक, शासन एवं गरीबी हर संदर्भ में पाकिस्तान बुरा प्रदर्शन कर रहा है। वह अब भी तालिबान एवं हक्कानी नेटवर्क को शरण दे रहा है, जिसके कारण पाकिस्तान सहयोगी होने के बजाए खतरा अधिक है। इस रिपोर्ट को एंथनी एच कॉर्ड्समैन ने तैयार किया है, जिसमें कहा गया है कि युद्ध के सैन्य एवं असैन्य आयामों में बेहतर दृष्टिकोण एवं बेहतर रणनीति होनी चाहिए। कोई भी प्रतिबद्धता असीमित नहीं होनी चाहिए। अफगानिस्तान को बहुत अधिक, बहुत बेहतर करना होगा, ताकि अमेरिकी प्रतिबद्धता के हर आगामी वर्ष को न्यायोचित ठहराया जा सके। रिपोर्ट में कहा गया है कि अमेरिका को पाकिस्तान को यह स्पष्ट करना चाहिए कि यदि वह तालिबान और हक्कानी नेटवर्क को समर्थन देना जारी रखता है, तो उसे मिलने वाली मदद पूरी तरह बंद कर दी जाएगी और उस पर प्रतिबंध लगाए जाएंगे। साथ ही चीन को भी यह स्पष्ट तौर पर अमेरिका को बता देना चाहिए कि अफगानिस्तान एवं पाकिस्तान संबंधी समस्या से निपटने में चीन का सहयोग चीन और अमेरिका दोनों के हित में होगा।  

Dakhal News

Dakhal News 6 June 2017


बांदीपुरा आतंकी

जम्मू-कश्मीर के बांदीपुरा में सेना ने सीआरपीएफ कैंप पर एक आतंकी हमले को विफल किया है। इस दौरान सेना ने 4 आतंकियों को मार गिराया। हमले के बाद एक बयान में गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने कहा है कि आतंकी कैंप पर लंबे समय तक कब्जा करने की फिराक में आए थे। भारी हथियारों से लैस आतंकियों का मकसद भारी नुकसान पहुंचाना था। बता दें कि सोमवार सुबह उत्तरी कश्मीर के संबल में स्थित सीआरपीएफ की 45वीं बटालियन कैंप पर सोमवार सुबह आतंकियों ने हमला बोल दिया। भारी गोला बारूद लेकर आए आतंकी उरी जैसे किसी बड़े हमले की फिराक में थे लेकिन मुस्तैद सेना ने उनकी मंसूबों को कमायाब नहीं होने दिया। यह फिदायीन आतंकी थे और बड़े हमले की फिराक में आए थे, वक्त रहते सेना ने इन्हें ऐसा करने से रोक लिया। आतंकी हमला विफल करने के बाद जवान भारत माता की जय के नारे लगाते नजर आए। अब तक इस हमले में किसी जवान के घायल होने की खबर नहीं है। बता दें कि 3 जून को ही जम्मू-श्रीनगर हाईवे पर सेना के काफिले पर हुए आतंकी हमले में दो जवान शहीद हुए थे वहीं चार अन्य घायल हो गए थे।  

Dakhal News

Dakhal News 5 June 2017


nia

श्रीनगर में राष्ट्रीय जांच एजेंसी(एनआईए) द्वारा मारे गए छापों के बाद अलगाववादी नेताओं द्वारा बुलाई गई बैठक नहीं हो गई। इसके बाद पुलिस ने हुर्रियत प्रमुख मीरवाईज को उनके घर में नजरबंद कर दिया है वहीं जेकेएलएफ चेयरमैन मोहम्मद यासीन को हिरासत मे ले लिया है। जानकारी के अनुसार कट्टरपंथी नेता सईद अली शाह गिलानी के घर में भी किसी भी अलगाववादी नेता को दाखिल नहीं होने दिया गया। उनके घर की तरफ आने जाने वाले सभी रास्तों को सील करते हुए सिर्फ उन्हीं लोगों को छानबीन के बाद वहां आने जाने की छूट है जो कट्टरपंथी नेता के घर के साथ सटे मकानों में रहते हैं। उल्लेखनीय है कि एक स्टिंग आप्रेशन में अलगाववादी नेता नईम अहमद खान द्वारा वादी में पाकिस्तान से आतंकी फंडिंग और कटटरपंथी सईद अली शाह गिलानी के हाफिज सईद से संबंधों का खुलासा किए जाने के बाद एनआईए ने एक एफआईआर दर्ज कर कश्मीर में कई अलगाववादी नेताओं और आतंकियों व पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी के हवाला नेटवर्क से जुड़े स्थानीय व्यापारियों के घरों में छापेमारी शुरु कर रखी है। इससे अलगाववादी खेमे व उसके समर्थकों में जबरदस्त खलबली मची हुई है। एनआईए के छापों से हताश अलगाववादियों ने आज अपनी अगली रणनीति तय करने के लिए कटटरपंथी सईद अली शाह गिलानी के घर में बैठक बुलाई थी। अलगाववादियों ने छापों को कश्मीरियों की आजादी की तहरीक को दबाने, कश्मीरी व्यापारियों को बदनाम कर, कश्मीरियों की अर्थव्यवस्था को चौपट करने की नई दिल्ली की साजिश करार दिया था। आज सुबह अलगाववादी नेताओं को गिलानी के घर जमा होने से रोकने के लिए पुलिस ने सबसे पहले उदारवादी हुर्रियत प्रमुख मीरवाईज मौलवी उमर फारुक को नगीन स्थित उनके घर में नजरबंद कर दिया। हालांकि मीरवाईज ने अपने चार साथियों संग मकान से बाहर निकल गिलानी के घर जाने का प्रयास किया,लेकिन घर के बाहर खड़े पुलिसकर्मियों ने उन्हें अंदर लौटने को मजबूर कर दिया। इसी दौरान जेकेएलएफ के चेयरमैन मोहम्मद यासीन मलिक जिन्हें बीती रात ही पुलिस ने नजरबंद किया था,सुबह नजरबंदी भंग कर अपने समर्थकों संग नारेबाजी करते हुए मैसूमा से हैदरपोरा स्थित गिलानी के निवास की तरफ चले। लेकन पुलिस ने उनके इरादों को नाकाम बना,उन्हें हिरासत में ले लिया। फिलहाल, मलिक को मैसूमा पुलिस स्टेशन की हवालात में बंद रखा गया है।  

Dakhal News

Dakhal News 5 June 2017


  हाफिज सईद सायबर आतंकी

  आतंकी संगठन जमात-उद-दावा ने साल 2017 को ईयर ऑफ कश्मीर घोषित किया है। वह किसी भी तरह से जम्मू-कश्मीर के युवाओं को आतंकवाद के रास्ते में लाने के लिए भड़का रहा है। जम्मू-कश्मीर पुलिस ने खुलासा किया है कि जमात का प्रमुख हाफिज सईद युवाओं को साइबर आतंकी बनाना चाहता है। उधर, बांदीपुरा में सीआरपीएफ के जवानों ने फिदाइन हमले की फिराक में घुसे चार आतंकियों को मार गिराया है। उनके पास के भारी-मात्रा में गोला-बारूद बरामद किया गया है। इक बारे में कश्मीर के डीजीपी एसपी वैद्य ने कहा कि हम पूरी तरह से तैयार हैं। उन्होंने कहा कि हम मारे गए आतंकियों की पहचान पता करने की कोशिश कर रहे हैं और यह पता लगा रहे हैं कि वे किस संगठन से जुड़े थे।    

Dakhal News

Dakhal News 5 June 2017


पीटर्सबर्ग modi

पीटर्सबर्ग से फ्रांस रवाना होने से पहले रूस से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आतंकवाद को लेकर पाकिस्तान पर जमकर निशाना साधा।  पाकिस्तान का नाम लिए बिना पीएम मोदी ने कश्मीर में आतंकियों की घुसपैठ कराने, उनको हथियार और आर्थिक मदद देने वाले पाकिस्तान की करतूत को सबके सामने रखा।  सेंट पीटर्सबर्ग इंटरनेशनल इकोनामिक फोरम में चर्चा के दौरान पीएम मोदी ने कहा कि दुनिया को ‘अच्छे आतंकवाद और बुरे आतंकवाद’ की चर्चा से आगे बढ़ना चाहिए। साथ ही आतंकवादियों को आर्थिक मदद और हथियारों की आपूर्ति बंद होनी चाहिए।  मोदी से सहमति जताते हुए पुतिन ने कहा कि भारत आतंकवाद के कारण एक गंभीर समस्या का सामना कर रहा है और यह कोई ‘काल्पनिक चीज’ नहीं है। एक सवाल के जवाब में मोदी ने कहा, ‘आतंकवादी हथियारों का निर्माण नहीं करते, लेकिन कुछ देश उन्हें बंदूकों की आपूर्ति करते हैं, आतंकवादियों के पास अपनी संचार प्रणाली या सोशल मीडिया नेटवर्क नहीं है, लेकिन कुछ देश उनकी मदद करते हैं।’ पीएम मोदी का निशाना पाकिस्तान पर था।

Dakhal News

Dakhal News 3 June 2017


narendr modi

पर्यावरण संरक्षण से जुड़ा पेरिस समझौता तोड़ने के बाद भारत और चीन की आलोचना करने वाले अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने परोक्ष तौर तगड़ा जवाब दिया है। सेंट पीटर्सबर्ग में पीएम मोदी ने सेंट पीटर्सबर्ग इंटरनेशनल इकोनॉमिक फोरम (एसपीआईईएफ) के दौरान कहा- "पेरिस समझौता रहे या नहीं, लेकिन भावी पीढ़ियों के लिए पर्यावरण संरक्षण को लेकर हमारी प्रतिबद्धता है।" रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन की मौजूदगी में निवेशकों को आमंत्रित करने के दौरान भारत को पर्यावरण हितैषी बताते हुए मोदी ने कहा कि हमारा देश प्राचीन काल से ही इस जिम्मेदारी को निभाता आ रहा है। भारत की सांस्कृतिक विरासत रही है। पांच हजार साल पुराने शास्त्र हमारे यहां मौजूद हैं, जिन्हें वेद के नाम से जाना जाता है। इनमें से एक वेद अथर्ववेद पूरी तरह प्रकृति को समर्पित है। हम यह मानकर चलते हैं कि प्रकृति का शोषण अपराध है। हम प्रकृति के शोषण को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए हम अपने विनिर्माण क्षेत्र में जीरो डिफेक्ट, जीरो इफेक्ट पर चलते हैं।" प्रधानमंत्री ने पेरिस समझौते का जिक्र करते हुए कहा-"आपको जानकर खुशी होगी कि हिंदुस्तान में आज पारंपरिक से ज्यादा पुनर्नवीकरण ऊर्जा के क्षेत्र में काम हो रहा है। हम पर्यावरण की रक्षा को लेकर जिम्मेवारी वाले देश के साथ आगे बढ़ रहे हैं। इसे लेकर हमारी पुरानी प्रतिबद्धता है।" उन्होंने कहा- "जब ग्लोबल वॉर्मिंग की इतनी चर्चा नहीं थी और पेरिस समझौता नहीं हुआ था, तब मैं गुजरात में मुख्यमंत्री था और कई सालों पहले दुनिया में गुजरात की चौथी ऐसी सरकार थी, जिसने अलग क्लाइमेट डिपार्टमेंट बनाया था। आज हम एलईडी बल्ब के जरिए ऊर्जा बचत कर रहे हैं। 40 करोड़ एलईडी बल्ब घर-घर पहुंचाए गए हैं। हजारों मेगावॉट बिजली बचाई गई है।" ब्रिटेन, जापान, कनाडा जैसे अमेरिका के सहयोगी देशों, औद्योगिक समूहों और पर्यावरण प्रेमियों ने ट्रंप के फैसले को खेदजनक बताते हुए निंदा की है। इटली, फ्रांस और जर्मनी ने संयुक्त बयान जारी कर कहा है समझौते से पीछे नहीं हटा जा सकता। ट्रंप के फैसले पर टेस्ला के सीईओ एलन मस्क और वॉल्ट डिज्नी के प्रमुख कार्यकारी रॉबर्ट इगर ने व्हाइट हाउस की एडवाइजरी काउंसिल छोड़ने की घोषणा कर दी। 2,000 करोड़ मीट्रिक टन कार्बन डाईऑक्साइड वर्ष 1750 से 2011 के बीच जीवाश्म ईंधन, सीमेंट उत्पादन, पेड़ों की कटाई आदि के जरिए वायुमंडल में छोड़ी जा चुकी है।  1971 से 2013 के बीच कार्बन डाईऑक्साइट का वैश्विक उत्सर्जन 117 प्रतिशत बढ़ा। यानी औसतन 2 प्रतिशत प्रतिवर्ष की दर से। वर्ष 1880 और 2012 के बीच वैश्विक भूमि और सागर का तापमान 0.85 डिग्री सेंटीग्रेड बढ़ा। 1901 और 2010 के बीच विश्व के सागरों का स्तर 19 सेमी बढ़ा। वर्ष 1970 में इंसानों ने वायुमंडल में 2700 करोड़ मीट्रिक टन कार्बन डाईऑक्साइड छोड़ी, जबकि वर्ष 2010 में यह आंकड़ा 4900 करोड़ मीट्रिक टन रहा।  अब तक के 10 सबसे गर्म साल 1992 के बाद ही हुए हैं। अमीर देशों को विकासशील देशों को 100 अरब डॉलर की मदद देना होगी।  400 से ज्यादा शहरों में उत्सर्जन आधा करने का लक्ष्य। पांच बड़े असर ग्लोबल वार्मिंग को रोकने के लिए जब विश्व बिरादरी एकजुट हुई तो उसका मुखिया ही पीछे हट गया। इससे इस अहम वक्त पर धरती को बचाने के प्रयासों को तगड़ा झटका लग सकता है। पांच प्रमुख असर पर एक नजर - 1. बढ़ेगी छोटे देशों की परेशानी: भले ही अमेरिका दुनिया में 15 फीसदी कार्बन उत्सर्जन के लिए जिम्मेदार हो पर विकासशील देशों को फंड मुहैया कराने और तापमान वृद्धि को नियंत्रित करने की ग्रीन तकनीक प्रदान करने में उसका बड़ा योगदान है। ऐसे में उसके पीछे हटने से दुनिया के कई देशों के सामने बड़ी चुनौती खड़ी हो जाएगी। 2. चीन की चांदी: यह चीन के लिए लिए किसी अवसर से कम नहीं है। इससे उसे योरपीय और मेक्सिको, कनाडा जैसे अमेरिकी देशों के नजदीक जाने का मौका मिलेगा। यह उसके लिए रणनीतिक और आर्थिक दोनों लिहाज से फायदेमंद है। हाल ही में उसकी महत्वाकांक्षी योजना ओबोर (वन बेल्ट वन रोड) पर भी उसे कूटनीतिक बढ़त हासिल हो सकती है। 3. निराश होंगे बिजनेसमैन: अमेरिकी कॉर्पोरेट शुरू से इस समझौते के पक्ष में रहा है। गूगल, एपल और जीवाश्म ईंधन का उत्पादन करने वाली एक्सॉन मोबिल समेत कई कंपनियां ट्रंप को संधि से जुड़े रहने को कह रही थीं। इनका भी मानना है इससे अमेरिका की साख बढ़ती और कई अन्य अहम मुद्दों पर देशों से समझौता करने में अमेरिका का पलड़ा कमजोर नहीं पड़ता। 4. खात्मे की ओर कोयला युग: ट्रंप भले कह रहे हों कि वह कोयला उद्योगों को बढ़ावा देकर अमेरिका को फिर महान बनाएंगे, लेकिन अब तक अमेरिका बहुत हद तक बिजली उत्पादन के लिए कोयले पर निर्भरता खत्म कर चुका है। अमेरिकी कोयला उद्योग में काम कर रहे लोगों की संख्या सौर ऊर्जा संचालित उद्योगों की तुलना में आधी है। हालांकि विकासशील देश दशकों तक कोयले पर निर्भर रहेंगे, लेकिन जिस हिसाब से अक्षय ऊर्जा के स्रोत सस्ते हो रहे हैं, उससे जल्द ही ये देश भी कोयले का इस्तेमाल बंद कर देंगे। 5. अब भी घटेगा अमेरिकी उत्सर्जन: पेरिस संधि से हाथ खींचने के बाद भी अमेरिका का कार्बन उत्सर्जन कम होगा। अनुमान है कि पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा द्वारा कार्बन उत्सर्जन में कटौती का जो लक्ष्य निर्धारित किया गया था, उसका आधा उत्सर्जन जरूर कम किया जा सकेगा। इसकी सबसे बड़ी वजह है प्राकृतिक गैस के उत्पादन में बढ़ोतरी और इसकी लागत में भारी गिरावट। "राष्ट्रपति ट्रंप के अदूरदर्शी फैसले के प्रभाव का आकलन सिर्फ आने वाली पीढ़ी ही कर सकती है, क्योंकि उन्हें ही समुद्र के बढ़ते जलस्तर और भीषण सूखे की मार झेलनी पड़ेगी। राष्ट्रपति ने अमेरिकी व्यावसायिक समुदाय को मदद पहुंचाने के वादे को भी तोड़ा है।"- द न्यूयॉर्क टाइम्स राष्ट्रपति ने घरेलू अर्थव्यवस्था को नुकसान पहुंचाने वाले संदिग्ध तथ्यों और अनर्गल दावों के आधार पर पेरिस करार से हटने का फैसला लिया है। उन्होंने जलवायु परिवर्तन से होने वाले फायदों और अक्षय ऊर्जा के क्षेत्र में रोजगार के नए मौके सृजित होने जैसे तथ्यों को नजरअंदाज कर दिया। -द वॉशिंगटन पोस्ट यह ट्रंप का एकतरफा फैसला अविवेकपूर्ण और ऊटपटांग है। राष्ट्रपति ने ज्यादातर सलाहकार, बड़ी-बड़ी कंपनियों और दो तिहाई अमेरिकी जनता के विरोध के बावजूद पेरिस करार से हटने का निर्णय लिया। ऐसा करके ट्रंप ने अमेरिकी हितों और अंतरराष्ट्रीय जगत में देश की प्रतिष्ठा को बड़ा नुकसान पहुंचाया है। -द इकोनॉमिस्ट, लंदन अमेरिका के सहयोगी देशों के लिए ट्रंप का करार से पीछे हटना गैरजरूरी और पर्यावरण संबंधी बर्बरता है। अमेरिका के सहयोगी देशों के लिए ट्रंप का करार से पीछे हटना गैरजरूरी और पर्यावरण संबंधी बर्बरता है। -द गार्जियन  

Dakhal News

Dakhal News 3 June 2017


manila

फिलीपींस की राजधानी मनीला में एक कैसीनो में हुई अंधाधुंध गोलीबारी में 34 लोगों की मौत हो गई है वहीं कई घायल हुए हैं। हमले के बाद फायरिंग करने वाले शख्स ने खुद को भी उड़ा लिया। फिलहाल हमला करने वाले की पहचान नहीं हो पाई है। पुलिस के अनुसार अब तक कैसीनो से 34 लोगों के शव बरामद किए गए हैं। अधिकारियों के अनुसार ज्यादातर लोगों की मौत घुटन की वजह से हुई है। मरने वालों में महिलाओं की संख्या ज्यादा है उनके शव बाथरुम में मिले हैं। जानकारी के अनुसार हमला रिजॉर्ट वर्ल्ड मनीला में देर रात 12 बजे के आसपास हुआ है। हमले में घायल हुए लोगों को इलाज के लिए अस्पतालों में भर्ती करवाया गया है। हमले के बाद ही कॉम्पलेक्स के ऑपरेटर ने बताया कि आतंकी संगठन आईएस ने इस हमले की जिम्‍मेदारी ली है। गोलीबारी की खबर के बाद रिजॉर्ट्स वर्ल्‍ड मनीला को बंद कर दिया गया है।  

Dakhal News

Dakhal News 2 June 2017


पृथ्वी-2 मिसाइल का सफल परीक्षण

भारत ने ओडिशा के चांदीपुर में शुक्रवार को परमाणु हथियार ले जाने में सक्षम पृथ्वी-2 मिसाइल का सफल परीक्षण किया है। जमीन से जमीन पर मार करने वाली यह मिसाइल 350 किमी दूर तक मार कर सकती है। जानकारी के अनुसार इसका परीक्षण सुबह 9.30 बजे मोबाइल लॉन्चर के माध्यम से किया गया है। सूत्रों के अनुसार यह मिसाइल 500-1000 किग्रा तक का वजन ढोने में सक्षम है। इसमें एडवांस इनर्शियल सिस्टम लगा है जिसके चलते यह बेहद सटीक तरीके से लक्ष्य को भेदती है। इसके सफल परीक्षण के बाद भारतीय सेना की ताकत में इजाफा हुआ है। भारत में बनी यह मिसाइल ठोस और लिक्विड दोनों तरह के ईंधन पर चल सकती है। इसे 2009 में पहली भार भारतीय शसस्त्र सेना में शामिल किया गया था।  

Dakhal News

Dakhal News 2 June 2017


मोस्ट वांटेड आतंकी

  भारतीय सेना ने एक सूची जारी की है जिसमें जम्मू कश्मीर में सक्रिय 12 मोस्ट वांटेड आतंकवादियों की तस्वीरों को सार्वजनिक किया गया है. इस सूची में लश्कर के कमांडर अबू दुजाना और बशीर वानी जैसे खूंखार आतंकी शामिल हैं. भारतीय सेना ने बुरहान वानी और सब्जार भट्ट को मौत के घाट उतारने के बाद अब अपने अगले टारगेट तक पहुंचने की तैयारी शुरू कर दी है. ये 12 आतंकी सेना के लिए मोस्ट वांटेड बने हुए हैं, माना जा रहा है घाटी में आतंक की हालिया वारदातों को अंजाम देने में इन्हीं 12 आतंकियों और उनके गुर्गों का हाथ है. ये सभी जम्मू और कश्मीर में दहशत फैलाने आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा और हिजबुल मुजाहिदीन से जुड़े हुए हैं. इनमें मोस्ट वांटेंड लश्कर कमांडर अबु दुजाना और बशीर वानी भी शामिल हैं. इससे पहले हिजबुल मुजाहिदीन के कमांडर बुरहान वानी और सब्जार भट्ट की मौत के बाद हिजबुल भारत के खिलाफ नए आतंकियों को तैयार कर रहा है. हिजबुल ने एक तस्वीर जारी की, जिसमें 27 आतंकी दिखाई दे रहे हैं. दरअसल, बीते 27 मई को सेना ने हिजबुल के कमांडर सब्जार भट्ट को एनकाउंटर में मार गिराया था. सब्जार की मुठभेड़ में मौत के बाद घाटी में हिंसा और ज्यादा भड़क उठी. श्रीनगर के पॉलिटेक्निक कॉलेज और अमर सिंह कालेज समेत घाटी में जगह-जगह प्रदर्शन, नारेबाजी शुरू हो गई. इतना ही नहीं सुरक्षा बलों पर पत्थरबाजी भी की गई.

Dakhal News

Dakhal News 1 June 2017


काबुल में धमाका ,65 लोगों की मौत

  काबुल में भारतीय और ईरानी दूतावास के करीब बुधवार को हुए जबरदस्त बम धमाके में अब तक 65 लोगों की मौत की पुष्टि हो गई है वहीं 325 से ज्यादा घायल बताए जा रहे हैं। खबरों के अनुसार यह धमाका काबुल पीडी 10 के पास स्थित वजीर अकबर खान एरिया में ईरानी दूतावास को निशाना बनाते हुए किया गया है। इस धमाके के चलते भारतीय दूतावास की इमारत को भी नुकसान पहुंचा है लेकिन किसी कर्मचारी को कोई चोट नहीं आई है। स्थानीय मीडिया के अनुसार इस हमले के चलते 100 से ज्यादा लोग मारे गए हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय ने एक बयान में कहा है कि धमाके में अब तक 65 लोगों की मौत हो चुकी है और 325 से ज्यादा घायल हुए हैं। सभी घायलों अस्पतालों में भर्ती करवाया गया है। हमले के बाद विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने ट्वीट करते हुए जानकारी दी है कि भगवान की कृपा से इस धमाके में दूतावास के सभी कर्मचारी सुरक्षित हैं।बता दें कि मंगलवार को ही काबुल में हुए एक बम धमाके में 27 लोगों की जांच हो गई थी और कई घायल हुए थे।  

Dakhal News

Dakhal News 31 May 2017


ips ms gupta

मैथिली शरण गुप्‍त विशेष पुलिस महानिदेशक के कार्यों के लिये मध्‍य प्रदेश को मिले स्‍मार्ट पुलिसिंग के दो राष्ट्रीय फिक्‍की अवार्ड मिले हैं।  मैथिली शरण गुप्‍त ने विशेष पुलिस महानिदेशक (रेल्‍वे) की पदस्‍थापना के दौरान रेल्‍वे यात्रियों की समस्‍याओं के समाधान व सशक्‍तीकरण के लिये जी. आर. पी. हेल्‍प एप एवं बेव वेस्‍ड रिस्‍पोंस मोनीटरिंग व रेल में प्रभावी विवेचना सहायता की व्‍यवस्‍था स्‍थापित की थी। यह व्‍यवस्‍था पूरे देश में अपनी सेवांये दे रही है। इस व्‍यवस्‍था की एक खासियत यह भी है कि यह इन्‍टरनेट के उपलब्‍ध न होने पर भी अपनी सेवायें पहुचाने में सक्षम् है। रेल्‍वे यात्री जी. आर. पी. हेल्‍प एप पर मात्र एक बटन दबाकर QIRTs (Quick Investigation and Response Teams) के माध्‍यम से सुनिश्चित मदद् चलती ट्रेन में प्राप्‍त कर सकते हैं। यह टीम चलती ट्रेन में ही मौके पर अपराध पंजीयन कर प्रभावी विवेचना प्रारम्‍भ्‍ा कर लुप्‍त होने के पहले साक्षो को संकलित कर अपराधियों को दबोचने में सक्षम है। इस व्‍यवस्‍था के मिलने से यात्रियों का सशक्‍तीकरण हुआ है व पूरे देश में रेल यात्रियों को इसका लाभ मिल रहा है। श्री मैथिली शरण गुप्‍त विशेष पुलिस महानिदेशक को‍ इस कार्य के लिये FICCI के द्वारा राष्‍ट्रीय स्‍मार्ट पुलिस अवार्ड से सम्‍मानित किया गया है। श्री गुप्‍त ने श्री राकेश जैन निदेशक, इन्‍फोक्राफ्ट बेब सॉल्‍यूशन प्राइवेट लिमिटेड को इस स्‍वप्‍न को कार्पोरेट सोशल जिम्‍मेदारी के तहत अंजाम देने का श्रेय देते हुए सराहना की।  श्री गुप्‍त को दूसरा राष्‍ट्रीय फिक्‍की स्‍मार्ट पुलिस अवार्ड महानिदेशक होमगार्ड की पदस्‍थापना के दौरान बेब बेस्‍ड राज्‍य आपदा कंमाड एवं आपदा प्रबंधन व्‍यवस्‍था को बनाने के लिये दिया गया है उल्‍लेखनीय है कि यह अनूठी व्‍यवस्‍था है जिसके तहत राज्‍य शासन के सभी विभागों, स्‍थानीय निकायों, निजी एवं शासकीय औदृयोगिक संगठनों, स्‍वयंसेवी संगठनों, परोपकारी संगठनों एवं निजी व्‍यक्तियों तथा संस्‍थानों के मानव एवं उपकरणीय संसाधनों की जियो टेगिंग की जाकर मात्र एक बटन दबाकर आपदाओं से जन जीवन एवं उनकी सम्‍पत्ति को बचाने की प्रभावी व्‍यवस्‍था की गयी है । राज्‍य शासन से सभी 51 जिलों को सिविल डिफेंस जिला घोषित कराया जाकर राज्‍य में सिविल डिफेंस की प्रभावी नीव रखी गयी एवं इसमें राज्‍य आपदा एवं आपात् मोचन बल की चार इकाइयों, 51 जिला आपात मोचन सेंटर, 377 आपदा वचाव केन्‍द्रों एवं 110000 सिविल डिफेंस वॉलिंटियरों को जोड़ा गया है एवं परोपकारी संगठनों के 3.5 लाख वॉलिंटियरों को जोड़े जाने की कार्यवाही की जा रही है।पिछले मानसून के समय इस व्‍यवस्‍था का प्रभावी उपयोग कर 40000 से अधिक व्‍यक्तियों आपदा के पहले सुरक्षित स्‍थान पर पहॅुचाकर बचाया गया एवं 13000 से अधिक व्‍यक्तियों की बाढ़ की विषम परिस्थितियों में जान बचायी गयी। इस व्‍यवस्‍था को कार्य रूप में परिणित करने के लिये मध्‍य प्रदेश विज्ञान केंद्र विशेषतौर पर प्रमुख विज्ञानिक श्री संदीप गोयल व उनकी टीम को श्रेय देते हुए सराहना की। श्री गुप्‍त  को यह दोनों अवार्ड  दिल्‍ली में प्रदान किये गए ।  

Dakhal News

Dakhal News 31 May 2017


शिवराज सिंह चौहान

शिवराज सिंह चौहान आज हमारे लिए गर्व का दिन है। आज हमारे देश के प्रधानमंत्री आदरणीय श्री नरेन्द्र मोदी जी के नेतृत्व में केन्द्र सरकार ने सफल तीन वर्ष पूर्ण कर लिए हैं। मैं इसे गर्व करने का दिन इसलिए कह रहा हूँ कि आज से तीन वर्ष पूर्व जब देश की जनता ने नरेन्द्र मोदी जी के हाथों में देश का नेतृत्व सौंपा था, तो जनता की आँखों में बहुत सारे सपने थे। आज सरकार उन सभी सपनों को पूरा करने की ओर बढ़ रही है। जनता ने जितनी उम्मीद से मोदी जी पर भरोसा जताया था, उससे कहीं ज्यादा उन्होंने उस भरोसे को पूरा करके दिखाया है। पहली बार देश को एक ऐसा प्रधानमंत्री मिला है जो हमारी विविधताओं, जिसे हमारी कमजोरी माना जाता था, उसे एक ताकत के रूप में तब्दील कर रहा है। इस अवसर पर मैं आदरणीय श्री नरेन्द्र मोदी जी को हार्दिक बधाई देता हूँ। श्री नरेन्द्र मोदी जी ने इन तीन वर्षों में अपने ईमानदार, दूरदर्शितापूर्ण, साहसिक और कई बार क्रांतिकारी निर्णयों से एक समृद्ध, खुशहाल और सशक्त भारत का निर्माण किया है। उनके प्रयासों से विश्व में एक भरोसेमंद 'ब्राण्ड इंडिया' की स्थापना हुई है। पूरी दुनिया में एक शक्ति के रूप में भारत का उदय हुआ है। मोदी सरकार ने एक भरोसेमंद और मजबूत सरकार के रूप में अपनी पहचान बनाई है। मोदी सरकार ने 'सबका साथ, सबका विकास' की भावना के साथ देश की जिम्मेदारी अपने हाथों में ली थी, उसी के अनुरूप आज सरकार ने देश में सभी वर्गों के सशक्तिकरण के लिए बेहतर योजनाएं बनाई हैं और उनका सफल क्रियान्वयन भी किया है। आज तीन वर्षों के अल्प समय में प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी ने भारत को विश्व की सबसे तेज गति से बढ़ने वाली और दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था के रूप में पहचान दिलाने में सफलता प्राप्त की है। विश्व की सभी आर्थिक एजेंसियों ने भारत के विकास पर आश्चर्य व्यक्त किया है। आईएमएफ ने भारत की आर्थिक विकास दर को इस वित्तीय वर्ष में 7.2 प्रतिशत और आगे के वर्षों में 7.7 प्रतिशत या उससे अधिक रहने का अनुमान व्यक्त किया है। विश्व बैंक ने भी कहा है कि भारत की विकास दर 7.6 से 7.8 प्रतिशत के बीच रह सकती है। वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम द्वारा जारी ग्लोबल कॉम्पेटिटिवनेस इंडेक्स में भी भारत ने 16 स्थानों की बढ़त हासिल की है। ब्राण्ड फाइनेंस के अनुसार भारत दुनिया का सातवां सबसे मूल्यवान राष्ट्र है। 'भारत की नेशन ब्राण्ड वेल्यू' में 32 प्रतिशत की अभूतपूर्व वृद्धि देखने को मिली है। एक ओर जहां चीन, जर्मनी और कनाडा की ब्राण्ड वेल्यू नकारात्मक रही है, वहीं भारत ग्रोथ में सबसे आगे हैं। थोक कीमत सूचकांक पर आधारित महंगाई दर में कमी आयी है। ग्लोबल एफडीआई कान्फिडेंस इंडेक्स में भारत एक ऐसी अच्छी स्थिति में पहुंच गया है, जहां इन्वेस्टर्स ने कहा है कि भारत की छवि प्रगतिशील और भरोसा दिखाने के लायक है। अन्तर्राष्ट्रीय आर्थिक एजेंसी नोमुरा ने भी कहा है कि इस साल की शुरूआत से घरेलू रुपया अन्य उभरते बाजारों के अनुरूप मजबूत हुआ है। श्री नरेन्द्र मोदी जी ने अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर भारत को वैश्विक नेतृत्व प्रदान करने वाले देश के रूप में स्थापित किया है। इसी माह मई 2017 में भारत ने सार्क देशों के लिए दक्षिण एशिया उपग्रह 'जीसैट-9' लाँच कर भारत के पड़ोसी देशों को एक उपहार दिया है। इसके माध्यम से मोदी जी ने अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर 'सबका साथ-सबका विकास' की भावना को अभिव्यक्त किया है। यह भागीदारी करने वाले देशों को सुरक्षित हॉटलाइन मुहैया कराएगा, जो भूकंप, चक्रवात, बाढ़ और सूनामी जैसी आपदाओं के प्रबंधन में मददगार होगा। भारतवासी जो विदेशों में रहते हैं, आज अपने भारतीय होने पर गौरव का अनुभव कर रहे हैं। श्री नरेन्द्र मोदी जी ने दुनिया के किसी भी देश में रहने वाले भारतीय के मुश्किल में आने पर उनकी मदद की है। उनके प्रयासों का ही परिणाम है कि यूक्रेन से 1100, लीबिया से 3750, यमन से 6710, ईराक से 7,200 और साउथ दक्षिण सूडान से 163 संकटग्रस्त भारतीय नागरिकों को सुरक्षित भारत पहुंचने में सरकार ने मदद की है। मोदी सरकार ने तीन वर्ष में भारत के हर वर्ग, गरीब, किसान, मजदूर, महिलाएं, बच्चें, युवा और निःशक्त सभी के कल्याण के कार्य किये हैं, जिन्हें यहाँ कम शब्दों में बयाँ करना असम्भव है। स्किल डेवलपमेंट की एक विस्तार योजना तैयार की गयी है, जो हमारे युवा शक्ति के हुनर को बढ़ावा देगी। 'एक भारत-श्रेष्ठ भारत' के सपने को साकार करने में मध्यप्रदेश एक अहम् भूमिका निभा रहा है। प्रधानमंत्री ने किसानों की आय दुगुना करने का जो संकल्प लिया है, उसे साकार करने के लिए हम अथक प्रयास कर रहे हैं। मैं पुनः आदरणीय मोदी जी को तीन वर्ष के सफलतम कार्यकाल के लिए बधाई देता हूँ और आने वाले समय के लिए मैं उन्हें शुभकामनाएं देता हूँ। मैं उन्हें इस बात के लिए आश्वस्त करता हूँ कि हम उनके हर विचार और कार्यक्रम में उनके साथ हैं। हम उम्मीद करते हैं कि आने वाले समय में आदरणीय मोदी जी देश को एक सर्व शक्तिमान वैश्विक ताकत के रूप में स्थापित करने में सफल होंगे। यही होगा हमारा नया इंडिया। जयहिन्द।(ब्लॉगर मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री हैं)  

Dakhal News

Dakhal News 26 May 2017


जल-पर्यटन स्थल सेलानी

मध्यप्रदेश में प्रसिद्ध पर्यटन एवं धार्मिक स्थल ओंकारेश्वर के नजदीक सेलानी नामक स्थल पर एक और जल-पर्यटन स्थल ने आकार लिया है। खण्डवा जिले के हनुवंतिया में विकसित वॉटर टूरिज्म कॉम्पलेक्स की तर्ज पर निर्मित किये गये इस जल-पर्यटन केन्द्र पर बोट क्लब सहित क्रूज, जलपरी, मोटर बोट और वाटर स्पोर्टस आदि की सुविधाएँ उपलब्ध करवायी जायेंगी। इस प्रकार एक निर्जन एवं पहुँच से दूर इस स्थान पर पर्यटकों को ठहरने एवं जल-क्रीड़ा गतिविधियों का लुत्फ उठाने सहित कोलाहल से दूर एक शांत और निर्मल नीर से भरे मनोरम स्थल पर अपना कुछ वक्त बिताने की सहूलियत मिलने लगेगी। ओंकारेश्वर के नजदीक पर्यटन निगम द्वारा विकसित सेलानी टापू रिसॉर्ट की शुरूआत आज 24 मई से हो गई है।  मध्यप्रदेश राज्य पर्यटन विकास निगम द्वारा लगभग तीन एकड़ क्षेत्र पर यह पर्यटन केन्द्र विकसित करने की योजना तैयार कर उसे मूर्त स्वरूप दिया गया है। सेलानी चहुँओर से पानी से घिरे एक टापू के रूप में स्थित है। नजदीक ही ओंकारेश्वर बाँध परियोजना है। परियोजना के समीप होने से इस स्थान पर भरे जल का स्तर वर्षाकाल में भी न तो बढ़ता है और न ही उसके बाद कभी कम होता है। यह टापू चारों ओर से ढलाननुमा बसा हुआ है और यहाँ पर जंगली पेड़ कस्टार, काड़ाकूड़ा, मोहिनी, बियालकड़ी, दही-कड़ी और धावड़ा तथा सागौन की दुर्लभ प्रजाति के पेड़ हैं। छोटी कावेरी एवं पुण्य सलिला नर्मदा का संगम स्थल भी पास में ही है। राज्य पर्यटन विकास निगम द्वारा तकरीबन 15 करोड़ रुपये लागत से यहाँ सर्व-सुविधायुक्त कॉटेज, प्रथम तल पर स्थित कॉटेज पर जाने के लिये पाथ-वे, केम्प फायर, मुख्य प्रवेश द्वार, रिसेप्शन, रेस्टॉरेंट, बोट-क्लब, कॉन्फ्रेंस हॉल, नेचुरल ट्रेल, बर्ड-वाचिंग तथा वॉच-टॉवर आदि का निर्माण किया गया है। यहाँ चार अलग-अलग ब्लॉक में 22 कॉटेज एवं एक सर्व-सुविधायुक्त सुईट बनाये गये हैं। हरेक कॉटेज के पास मिनी गार्डन भी रहेगा। कॉटेज की डिजाइन इस प्रकार बनायी गयी है, जिससे कि यहाँ बैठकर ही दूर तलक भरे हुए निर्मल नीर का आनंद उठाया जा सकता है। कॉटेज की बालकनी में बैठकर पर्यटक घने जंगल, पानी और दुर्लभ प्रजाति के पक्षियों को निहार सकेंगे। आस-पास के जंगल में मुख्य रूप से हिरण, जंगली सुअर, तेंदुआ आदि वन्य-प्राणी भी स्वच्छंद विचरण करते हैं। कॉटेज के निर्माण में सागौन की लकड़ी का उपयोग किया गया है। परिसर में लैण्ड-स्केपिंग का काम किया जाकर फर्श पर सेंड स्टोन लगायी गयी है।  

Dakhal News

Dakhal News 24 May 2017


मैनचेस्टर में धमाका ,19 लोगों की मौत

ब्रिटेन के मैनचेस्टर एरीना में हुए बमा धमाकों में 19 लोगों की मौत और 50 के घायल होने के बाद इसे आतंकी हमला माना जा रहा है। पुलिस धमाकों की जांच कर रही है वहीं प्रधानमंत्री थेरेसा में ने आपात बैठक बुलाई है। जानकारी के अनुसार एरीना में अमेरिकी सिंगर आरियाना ग्रांडे के कांसर्ट के दौरान हुए धमाके के बाद देर रात अफरा-तफरी मच गई। ऐसी हालत में वहां बने गुरुद्वारे ने घायलों और डरे हुए लोगों को शरण दी और खाना उपलब्ध करवाया। गुरुद्वारे के हरजिंदर एस कुकरेजा ने ट्वीट कर लोगों को बताया कि जो भी चाहे गुरद्वारा पहुंच सकता है। उन्होंने ट्वीट में गुरुद्वारे का पता भी दिया। यह देख कुछ और स्थानीय लोग भी मदद के लिए आगे आए और मदद के लिए ट्वीट किया। इसके चलते लोगों ने गुरुद्वारे में शरण ली जहां उन्हें आराम और खाने का सामान उपलब्ध करवाया गया। खबरों के अनुसार कांसर्ट के दौरान एरीना के फोयर एरिया में धमाका हुआ और वहां एक युवक का शव बरामद हुआ है जिसके बाद इस बात की आशंका जताई जा रही है कि यह एक आत्मघाती हमला था। इस हमले को अब तक का सबसे बुरा हमला माना जा रहा है। हालांकि अब तक किसी आतंकी संगठन ने इसकी जिम्मेदारी नहीं ली है। इससे पहले 2005 में लंदन में हुए धमाकों मे 52 लोग मारे गए थे और 700 से ज्यादा लोग घायल हुए थे। इसे अत्मघाती हमला माना जा रहा है। पुलिस के अनुसार हमलावर भी धमाके में मारा गया है। बता दें कि यह धमाका मैनचेस्टर एरीना में चल रहे अमेरिकी सिंगर अरियाना ग्रैंडे के कांसर्ट के दौरान एरीना में दो धमाके हुए जिसके बाद यहां अफरा-तफरी मच गई। चीख पुकार करते लोग एरीना का बाहर भागने लगे। धमाके के बाद मौके पर पहुंची स्थानीय पुलिस के अनुसार, धमाका मैनचेस्टर एरीना में हुआ जहां अमेरिकी पॉप सिंगर अरियाना ग्रैंडे का शो हो रहा था। कुछ लोगों को कहना है कि धमाका शो खत्म होने के बाद हुआ। स्थानीय समयानुसार तब रात के करीब साढ़े दस बज रहे थे। विस्फोट के कारणों का पता नहीं चला है, लेकिन प्रधानमंत्री थेरेसा मे ने कहा है कि पुलिस आतंकी हमला मानकर जांच कर रही है। घटना के बाद पीएम मोदी ने इसकी निंदा की है और कहा है कि मैं इससे बेहद दुखी हूं और मेरी प्रर्थनाएं मृतकों और घायलों के परिवारों के साथ हैं। वहीं राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने भी धमाके पर दुख जताते हुए कहा है कि मैनचेस्टर में धमाके की खबर सुनकर दुख हुआ। मेरी प्रर्थनाएं मृतक और घायल लोगों और उनके परिवार के साथ हैं। भारत दुख की इस घड़ी में ब्रिटेन की सरकार और वहां के लोगों के साथ खड़ा है। शहर में जगह-जगह बम निरोधी विशेष दस्ता और हथियारबंद पुलिस तैनात कर दी गई है। कंसर्ट स्थल के नजदीक स्थित मैनचेस्टर विक्टोरिया स्टेशन से आवागमन रोक दिया गया है। पुलिस ने लोगों से इस इलाके से दूर रहने की अपील की है। पुलिस को मौके से एक और संदिग्ध विस्फोटक मिला है जिसे नियंत्रित तरीके से धमाका कर खत्म कर दिया गया है।  

Dakhal News

Dakhal News 23 May 2017


pakistan trump

खबर रियाद से। सउदी अरब की यात्रा पर गए अमेरिकी राष्ट्रपति ने इस्लामिक देशों के नेताओं को संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने भारत को आतंक पीड़ित बताया और आतंकवाद का खत्म करने की अपील की। इस कार्यक्रम में पाक पीएम नवाज शरीफ भी थे और उन्हें भी आतंकवाद पर बोलना था लेकिन ऐसा हो नहीं पाया। नवाज की ढाई घंटे की मेहनत से तैयार हुई स्पीच बेकार गई और वो ट्रंप के सामने कुछ बोल ही नहीं पाए। बोलना तो दूर उन्हें स्टेज तक पर नहीं जाने दिया गया। इसके बाद पाक मीडिया ने इसे बेइज्जती करार दिया है। साथ ही पूरे मामले को लेकर पाकिस्तान में नवाज शरीफ की आलोचना भी हो रही है। पाक मीडिया ने लिखा है कि अगर नवाज शरीफ को कहीं तवज्जो नहीं मिल रही थी तो उन्हें सउदी अरब जाने की क्या जरूरत थी। कहा जा रहा था कि नवाज शरीफ, ट्रंप से मुलाकात भी करेंगे लेकिन यह भी संभव नहीं हुआ। इस लेकर तहरीक ए इंसाफ के प्रमुख इमरान खान ने नवाज पर निशाना साधते हुए कहा कि ट्रंप के साथ गोल्फ खेलने के लिए नवाज ने अपने कमांडोज के साथ कई दिनों तक प्रेक्टिस की लेकिन गोल्फ खेलना तो दूर वो ग्राउंड तक नहीं पहुंच पाए।

Dakhal News

Dakhal News 23 May 2017


manhani kejriwal

    मानहानि मामले में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के वकील राम जेठमलानी का कोर्ट रूम में वित्त मंत्री अरुण जेटली को 'क्रूक' कहना केजरीवाल को भारी पड़ गया है। खुद को शातिर कहे जाने से नाराज अरुण जेटली ने आम आदमी पार्टी (आप) सुप्रीमो अरविंद केजरीवाल पर दायर मानहानि केस में 10 करोड़ रुपए की राशि और बढ़ा दी है। अब कुल मिलाकर मानहानि की रकम 20 करोड़ रुपए हो चुकी है।  पिछले सप्ताह अरुण जेटली v/s अरविंद केजरीवाल मानहानि मामले में दिल्ली हाईकोर्ट में अरविंद केजरीवाल के वकील राम जेठमलानी और अरुण जेटली के वकीलों के बीच जमकर तीखी नोक-झोंक हुई थी। सुनवाई के दौरान राम जेठमलानी ने इंडियन एक्सप्रेस में लिखे अपने लेख को अरुण जेटली को दिखाया और पूछा कि क्या आपने इसे पढ़ा है, तो अरुण जेटली के वकीलों ने इस पर आपत्ति जताई। कई बार राम जेठमलानी ने यही सवाल पूछा और जेठलमलानी ने बोला अरुण जेटली चोर हैं और मैं साबित करूंगा। वहीं, इस पर अरुण जेटली ने पूछा था कि क्या अरविंद केजरीवाल ने आपको अनुमति दी है ये शब्द कहने के लिए, अगर दी है तो मैं 10 करोड़ की मानहानि की राशि को बढ़ाने वाला हूं। इसके बाद जेटली ने ये भी कहा था कि अपमान की एक सीमा होती है। गौरतलब है कि जेठमलानी लगातार अपने सवालों में अरुण जेटली के लिए क्रूक शब्द का इस्तेमाल कर रहे थे जिस पर जेटली और उनके वकीलों ने सख्त ऐतराज किया था। दिल्‍ली के मुख्‍यमंत्री अरविंद केजरीवाल और कुछ आप नेताओं ने दिल्ली और जिला क्रिकेट संघ (डीडीसीए) में कथित घोटाले को लेकर केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली पर गंभीर आरोप लगाए थे। इसके बाद अरुण जेटली ने दिसंबर 2015 में अरविंद केजरीवाल और अन्‍य पांच आप नेताओं के खिलाफ पटियाला हाउस कोर्ट में आपराधिक मानहानि का दावा ठोकते हुए 10 करोड़ रुपए का मुकदमा किया था।  

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2017


उमेश त्रिवेदी

उमेश त्रिवेदी केन्द्र में नरेन्द्र मोदी-सरकार की तीसरी सालगिरह पर आयोजित होने वाले भव्य मोदी-फेस्ट की राजनीतिक-किलकारियों के पहले काजल की कोठरी में बैठी राजनीति की काली बिल्लियों की गुर्राहट और किट-किट ने कर्कशता के नए आयाम अख्तियार कर लिए हैं। काली कमाई की तलाश में राष्ट्रीय जनता दल के मुखिया लालू यादव के यहां आयकर विभाग के और यूपीए के पूर्व वित्त एवं गृह मंत्री पी. चिदम्बरम के यहां सीबीआय के छापों के बाद राजनेताओं में सुगबुगाहट उठने लगी है कि यह विपक्ष को बदनाम करने की सुनियोजित कोशिशों का हिस्सा है।  काली कमाई के नाम पर विपक्ष के वरिष्ठ नेताओं को बदनामी के काले परदों के पीछे ढकेलने की रणनीति के तहत मोदी-सरकार एक तीर से कई निशाने साध रही है। पहला, मोदी-सरकार इस बहाने राष्ट्रपति चुनाव के पहले विपक्ष के साझा उम्मीदवार की उम्मीदों को नेस्तनाबूद करना चाहती है। दूसरा, मोदी-सरकार की तीन साल की उपलब्धियों के सुनहरेपन को घनीभूत करने की गरज से भाजपा सभी विपक्षी दलों और उनकी राजनीति को काले 'बेक-ड्राप' में बांधना चाहती है। विपक्षी की काली भंगिमाओं के कैनवास पर मोदी-सरकार की उपलब्धियों का सुनहरापन आकर्षक 'कंट्रास्टो' रचता है। विपक्ष के काले अंधेरों में भाजपा की उपलब्धियों के जुगनू खूब चमकेंगे और भाजपा के चेहरे पर जड़े सितारे ज्यादा चटक नजर आएंगे।   राजनीतिक परिस्थितियां भाजपा के पक्ष में हैं और अनुकूलताएं आगे-आगे दौड़ रही हैं। सिर्फ लालू यादव, पी. चिदम्बरम या अरविंद केजरीवाल भाजपा के राजनीतिक-आक्रमण की चपेट में नहीं हैं। दिल्ली उच्च न्यायालय ने नेशनल हेराल्ड मामले में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और राहुल गांधी के खिलाफ जांच को आगे बढ़ाने के मामले में आयकर विभाग को छूट दे दी है। बिहार में राष्ट्रीय जनता दल के सुप्रीमो लालू यादव पर आयकर विभाग की छापेमारी के परिणाम दोहरे रहे हैं। एक तो भाजपा को भ्रष्टाचार के मामलों में राजनीतिक-रूप से लालू यादव को घेरने की आसान राह मिली है, वहीं यह कार्रवाई बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और लालू यादव के बीच मनोमालिन्य पैदा करने में सफल रही है। जो राजनीतिक दृष्टि से राष्ट्रपति चुनाव में भाजपा की रणनीति में मददगार होगा। नीतीश कुमार के इस कथन ने भी आग में घी का काम किया है कि लालू यादव के गलत कार्यों की जांच से उन्हें कौन रोक रहा है?  इसके पहले नीतीश 2019 के लोकसभा चुनाव में प्रधानमंत्री के रूप में विपक्ष का साझा उम्मीदवार बनने से भी इंकार कर चुके हैं। नीतीश ने कहा था कि वो राजनीतिक-मूर्ख नहीं हैं। छापों के बाद लालू यादव ने ट्वीट पर प्रतिक्रिया व्यकत करते हुए कहा था कि 'भाजपा को नया अलायंस-साथी मुबारक हो...।' लालू यादव का यह ट्वीट बिहार में नीतीश की गठबंधन सरकार के लिए अलर्ट माना जा रहा है। लालू के ट्वीट से राष्ट्रपति चुनाव में विपक्ष के संयुक्त उम्मीदवार के लिए प्रयासरत राजनीतिक पार्टियों के नेता परेशान हैं। वो किसी भी कीमत पर बिहार के 71 जेडीयू विधायकों को खोना नहीं चाहते हैं। उल्लेखनीय है कि बिहार की गठबंधन-सरकार में नीतीश कुमार के विधायकों की संख्या 71 है। भाजपा चाहती है कि किसी भी कीमत पर बिहार का गठबंधन टूट जाए और नीतीश कुमार को अपनी सरकार बचाने के लिए भाजपा की शरण में आना पड़े। पी. चिदम्बरम के आवास पर सीबीआय की छापेमारी कांग्रेस के आसपास जमा बदनामी को गहराने वाली है। चिदम्बरम के बेटे कार्ति चिदम्बरम पर आरोप है कि पिता की हैसियत का लाभ उठाकर उन्होंने आईएनएक्सम मीडिया समूह को विदेशी निवेश के मामले में क्लीयरेंस दिलाने की एवज में 2008 में भारी रिश्वत ली थी। कांग्रेस का मानना है कि लोगों का ध्यान अपनी ओर खींचने के लिए भाजपा-सरकार ने यह कदम उठाए हैं। कांग्रेस के उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने सवाल किया है कि मोदी-सरकार स्पष्ट करे कि वह अपने किस काम के लिए जश्न मना रही है? यह सवालों की शुरूआत है। विरोधी ऐसे कई असुविधाजनक सवाल उठा सकते हैं, लेकिन विपक्षी नेताओं को काली कमाई की हथकड़ियों से बांधने के बाद क्या मीडिया और लोग उनके सवालों को सुनेंगे...?[  लेखक उमेश त्रिवेदी सुबह सवेरे के प्रधान संपादक है।]

Dakhal News

Dakhal News 22 May 2017


अंतरराष्ट्रीय न्यायालय

भारत ने आज उस वक्त पाकिस्तान पर बड़ी कूटनीतिक विजय हासिल की जब अंतरराष्ट्रीय न्यायालय ने पाकिस्तानी सैन्य अदालत से जासूसी के आरोप में फांसी की सजा पाये भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव की सजा पर रोक लगा दी. अंतरराष्ट्रीय कोर्ट के इस फैसले से जहां भारत की जीत हुई वहां पाकिस्तान को मुंह की खानी पड़ी. अंतरराष्ट्रीय न्यायालय में भारत की तरफ से पैरवी करते हुए जहां देश के जानेमाने वकील हरीश साल्वे ने 1 रुपये की फीस ली तो दूसरी तरफ पाकिस्तान के वकील खैबर कुरैशी ने 5 करोड़ फीस ली. मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक  5 करोड़ रुपये की मोटी फीस लेने के बावजूद आईसीजे में कुलभूषण मामले पर वह जोरदार दलीलें रखने में रख पाने में नाकाम. जिसे लेकर पाकिस्तान में काफी रोष है. दूसरी तरफ हरीश साल्वे की हर दलील को अंतराराष्ट्रीय कोर्ट ने न सिर्फ ध्यान से सुना बल्कि हर दलील को माना भी. अंतरराष्ट्रीय कोर्ट का फैसला आने के बाद ट्विटर पर लोगों ने भारत के वकील हरीश साल्‍वे की जमकर सराहना की. एक ने ट्वीटर पर लिखा कि 1 रुपये में पाकिस्तान की धज्जियां उड़ाने वाले हरीश साल्वे जी भारत के पहले वकील बने. एक यूजर ने लिखा कि कभी-कभी मात्र एक रुपया 125 करोड़ लोगों का दिल जीत सकता है. फैन नहीं मतदाता बनिए ट्विटर एकाउंट से लिखा गया 'हरीश साल्वे ने 1 रुपया लिया और केस जीत लिया, पाकिस्तान के लायर ने 4 करोड़ लूटे और हार गया हाहाहाहा' नीदरलैंड के हेग स्थित अंतर्राष्ट्रीय कोर्ट ने आज (गुरुवार को) जासूसी के आरोप में पाकिस्तान की जेल में बंद भारतीय नेवी के पूर्व अधिकारी कुलभूषण जाधव की फांसी की सज़ा पर रोक लगा दी. इसी के साथ अंतरराष्ट्रीय मंच पर यह भारत की बड़ी कूटनीतिक जीत साबित हुई है. अदालत ने पाकिस्तान से मामले में अंतिम फैसला आने तक कथित जासूस कुलभूषण जाधव को फांसी न देने का आदेश दिया और आदेश के क्रियान्वयन को लेकर उठाए गए कदमों से अदालत को अवगत कराने को कहा. भारत की ओर से वरिष्ठ वकील हरीश साल्वे ने कुलभूषण जाधव केस की पैरवी की.खबर है कि हरीश साल्वे ने 1 एक रुपये की फीस लेकर कुलभूषण जाधव मामले में अंतरराष्ट्रीय कोर्ट में भारत का पक्ष रखा. 42 साल के अपने करियर में वह कई कॉरपोरेट घरानों का पक्ष कोर्ट में रख चुके हैं. उनकी गिनती भारत के सबसे महंगे वकीलों में होती है. अंतर्राष्ट्रीय न्‍यायालय का फैसला आने के बाद ट्विटर पर लोगों ने भारत के वकील हरीश साल्‍वे की जमकर वाहवाही की. भारत की विदेश मंत्री सुषमा स्वराज समेत कई नेताओं ने हरीश साल्वे को शुक्रिया कहा. भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव की मौत की सजा पर अन्तरराष्ट्रीय न्यायालय (आईसीजे) द्वारा रोक लगाए जाने के बाद पाकिस्तान के विदेश कार्यालय ने गुरुवार (18 मई) को कहा कि इस्लामाबाद राष्ट्रीय सुरक्षा से जुड़े मामले में अंतरराष्ट्रीय न्यायालय के न्यायक्षेत्र को नहीं स्वीकार करता. विदेश कार्यालय के प्रवक्ता नफीस जकारिया ने भारत पर बरसते हुए कहा कि वह जाधव का मामला अंतरराष्ट्रीय न्यायालय (आईसीजे) ले जाकर ‘अपना असली चेहरा छिपाने की कोशिश’ कर रहा है. कुलभूषण जाधव मामले में भारत को गुरुवार को अंतर्राष्ट्रीय अदालत (आईसीजे) में बेहद अहम कूटनीतिक, नैतिक व कानूनी जीत मिली. अदालत ने पाकिस्तान से मामले में अंतिम फैसला आने तक कथित जासूस कुलभूषण जाधव को फांसी न देने का आदेश दिया और आदेश के क्रियान्वयन को लेकर उठाए गए कदमों से अदालत को अवगत कराने को कहा. आईसीजे के अध्यक्ष रॉनी अब्राहम ने अपने आदेश में कहा, "इस अदालत ने एकमत से फैसला किया है कि मामले में अदालत का अंतिम फैसला आने तक कुलभूषण जाधव को फांसी न देने के लिए पाकिस्तान हर उपाय करेगा. साथ ही अदालत ने एकमत से यह भी फैसला किया है कि इस आदेश के क्रियान्वयन को लेकर उठाए गए कदमों से पाकिस्तान अदालत को अवगत कराएगा. अदालत में उस वक्त दोनों देशों के अधिकारी मौजूद थे, जब न्यायाधीश ने रजिस्ट्रार को दोनों पक्षों को आदेश की प्रति प्रदान करने को कहा. आदेश में अदालत ने कहा कि मौजूदा मामले के विवरणों के देखकर प्रथमदृष्टया लगता है कि अदालत का मामले में हस्तक्षेप करने का अधिकार है. अदालत ने कहा कि उसने पाया है कि भारत ने जिन अधिकारों की मांग की है और अदालत जिन तात्कालिक कदमों को उठा सकती है, इन दोनों के बीच एक वैध संबंध है. न्यायाधीश अब्राहम ने उल्लेख किया कि पाकिस्तान के वकील ने यह दलील दी है कि जाधव को अगस्त तक फांसी नहीं दी जाएगी, लेकिन यह आश्वासन नहीं दिया है कि उसके बाद उसे फांसी नहीं दी जाएगी. अदालत ने यह भी कहा कि जाधव तक राजनयिक पहुंच प्रदान की जानी चाहिए, जिसकी भारत ने मांग की है.

Dakhal News

Dakhal News 19 May 2017


अनिल माधव दवे

  अनिल माधव दवे यानी  ‘जावली’  का वो रणनीतिकार जिसने मध्यप्रदेश में एक नहीं छह चुनाव में अपनी दूरदर्शिता और प्रबंधन क्षमता का लोहा मनवाया, जिसका आगाज उन्होेंने दिग्विजय सिंह की सरकार को उखाड़ फेंकने के साथ किया था। सियासत के मोर्चे पर मध्यप्रदेश में स्थापित कांग्रेस को सत्ता से बेदखल करना और सत्ता में रहते हुए बीजेपी को वापस सत्ता में लाना, वो भी एक नहीं दो बार उनकी विलक्षण, सियासी सकारात्मक सोच एवं कुशल प्रबंधन की कार्यक्षमता के मोर्चे पर उनकी उपलब्धियों को बयां करता है। प्रदेश संगठन का नेतृत्व बदलता रहा, वह भी तब जब चुनाव की कमान उमाभारती के बाद शिवराज के पास जाकर बदलती रही, जिनके विरोधाभासी व्यक्तित्व के बावजूद अपनी योग्यता के दम पर दवे दोनों के साथ चुनाव में समन्वय बनाने में सफल रहे। ‘जावली’ से निकला चुनावी नारा आज भी लोगों के जेहन पर छाया रहा, जब 2003 में मिस्टर ‘बंटाधार’ का जुमला कांग्रेस के लिए परेशानी का सबक बना। आखिर शीर्ष नेतृत्व खासतौर से मोदी ने उनकी सुध ली और विलक्षणता को पहचाना। प्रधानमंत्री ने उन्हें अपनी कैबिनेट में शामिल कर वो सम्मान दिया जिसके वो हकदार थे और सूबे की राजनीति में उन्हें दूसरों से अलग रखता था।हाल ही में राज्यसभा के लिए एक बार फिर नवाजे गए दवे का दबदबा अब दिल्ली की राजनीति में देखने को मिला। जिनके खाते में उपलब्धियों के नाम पर बहुत कुछ है, लेकिन संघ के इस निष्ठावान और समर्पित स्वयंसेवक ने जो धमाका किया है उसका असर मध्यप्रदेश की राजनीति में देखने का इंतजार रहेगा। ऐसे में सवाल खड़ा होना लाजमी है कि सांसद रहते मध्यप्रदेश की राजनीति में अभी तक उपेक्षा के शिकार हुए अनिल माधव दवे की यह नई पारी बीजेपी की अंदरूनी राजनीति खासतौर से सूबे की सियासत में क्या गुल खिलाती है, जहां से पहले से ही सुमित्रा महाजन, सुषमा स्वराज, उमाभारती, नरेन्द्र तोमर, थावरचंद गेहलोत जैसे दिग्गज दिल्ली में अपना दबदबा बनाए हुए हैं। प्रकाश जावड़ेकर पहले ही मंत्री बनकर राज्यसभा में मध्यप्रदेश से भेजे जा चुके हैं। दूसरी ओर दिल्