सरकार की बेरुखी एएनएम कर्मचारियों पर भारी

swasthya mantri दो सूत्रीय मांगों को लेकर स्वास्थ्य मंत्री का घेराव
ANM कर्मचारियों ने कोरोना में दी थी सेवाएं

सरकार की बेरुखी प्रदेश के एएनएम कर्मचारियों पर भारी पड़ रही है कोरोना के समय अपनी जिंदगी दांव पर लगाकर सेवा देने वाले ये कर्मचारीअब सरकार से खुद के लिए गुहार लगा रहे हैं  दो  सूत्रीय मांगों को लेकर एक बार फिर एएनएम कर्मचारियों ने सरकार के खिलाफ प्रदर्शन किया और  स्वास्थ्य मंत्री प्रभुराम चौधरी के बंगले का घेराव कियाएएनएम कर्मचारी मांगों को लेकर  एक बार फिर लामबंद हुए स्वास्थ्य मंत्री प्रभु राम चौधरी के बंगले पर इन कर्मचारियों ने प्रदर्शन किया अपनी  दो  सूत्री मांगों को लेकर ये  कर्मचारी लंबे समय से सरकार से गुहार लगा रहे हैं शनिवार को एक बार फिर  कर्मचारियों ने प्रदर्शन कर अपनी मांग रखी प्रदर्शनकारियों की मांग है कि इन्हें 90% वेतनमान के साथ नियमितीकरण किया जाएगौरतलब है की प्रदेश में लगभग 5 हजार  संविदा एएनएम कर्मचारी हैं कोरोना  काल में जरूरत के समय सरकार ने इन कर्मचारियों  का  भरपूर लाभ उठाया इन कर्मचारियों ने अपनी जान की परवाह ना करते हुए स्वास्थ्य विभाग में अपनी सेवाएं दी लेकिन सरकार की बेरुखी के चलते इन्हें अपने परिवार के पालन पोषण के लिए आर्थिक परेशानियों से गुजरना पड़ रहा है इन कर्मचारियों का कहना है कि यदि उनकी मांगों को पूरा नहीं किया गया तो वे  हड़ताल करने के लिए विवश होंगे |

Dakhal News 15 May 2022

Comments

Be First To Comment....

Video

Page Views

  • Last day : 8492
  • Last 7 days : 59228
  • Last 30 days : 77178
x
This website is using cookies. More info. Accept
All Rights Reserved © 2022 Dakhal News.