विशेष

नामीबियाई चीते ने किया पहला शिकार कूनो नेशनल पार्क में छोड़े गए चीते अब यहां के माहौल में ढल रहे हैं। हाल ही में पार्क में छोड़ी गई मादा चीता तिबलिश ने अपना पहला शिकार किया। जिले के राष्ट्रीय कूनो अभ्यारण में नामीबिया से आए आठ चीजे अब धीरे-धीरे यहां के माहौल में ढल रहे हैं। हाल ही में बड़े बाडे में छोड़ी गई मादा चीता तिबलिश ने पहली बार शिकार किया है। मादा चीता ने वन्य चीतल का शिकार कर अपनी भूख मिटाई। इसे लेकर कूनो वन मंडल के अधिकारियों ने खुशी जाहिर की है।    बता दें, चीता टास्क फोर्स के अधिकारियों के निर्देश के बाद कूनो वन मंडल के अधिकारियों ने पिछले 27 नवंबर को मादा चीता तिबलिश और एक अन्य चीते को बड़े बाडे में रिलीज किया था, इसके बाद से ये लगातार वन्य जीवों का शिकार करने की कोशिश करती रहीं लेकिन, कामयाबी नहीं मिली। बाड़े के अंदर की बड़ी घास की वजह से भी शिकार करने में दिक्कत हो रही थी, इसे देखते हुए कूनो के अधिकारियों ने शनिवार को बड़े बाड़े में 13 और चीतल छोड़े, रविवार शाम को तिबलिश ने एक चीतल का शिकार करके बड़े ही चाव से उसका मांस खाया, अब वह प्राकृतिक रूप से वन्य जीवों का शिकार कर सकेगी, दूसरे चीते भी शिकार करके अपना पेट खुद भर रहे हैं। इसे लेकर चीता ट्रांसपोर्ट के अधिकारी भी खुशी जाहिर कर रहे हैं। राष्ट्रीय कूनो अभ्यारण के डीएफओ प्रकाश वर्मा का कहना है कि, मादा चीता ने प्राकृतिक रूप से शिकार किया है यह वाकई खुशी की बात है, हमें लग रहा था कि बड़ी घास होने की वजह से शिकार नहीं कर पा रही है। इसे लेकर हमने कल 13 और चीतल छुड़वाए और आज उसने पहला शिकार किया है।    रिपोर्ट-  शैफाली गुप्ता

Dakhal News

Dakhal News 5 December 2022

दिव्यांग कर्मचारियों का किया गया  सम्मान   विश्व दिव्यांग दिवस पर सिंगरौली में विश्व दिव्यांग दिवस  समारोह का आयोजन किया गया..इस दौरान सभी दिव्यांग कर्मचारियों  का अभिनंदन एवं सम्मान किया गया वहीं समारोह में दिव्यांग कर्मचारीगण ने अपने विचार रखे एनटीपीसी सिंगरौली में  विश्व दिव्यांग दिवस समारोह का आयोजन किया गया इसका उद्देश्य था कि दिव्यांग जन सामाजिक, आर्थिक, राजनीतिक अधिकार के प्रति जागरूक हो और दिवयांगता के मुद्दे पर आपसी समझ बढ़े .दिव्यांगों को गरिमापूर्ण जीवन मिले इस अवसर पर सभी दिव्यांग कर्मचारियों का अभिनंदन एवं सम्मान किया गया सम्मान समारोह में दिव्यांग कर्मचारियों ने अपने विचार रखे और  एनटीपीसी प्रबंधन के प्रति समान अवसर, समान अधिकार, सम्मानपूर्ण जीवन एवं सुगम कार्यक्षेत्र प्रदान करने के लिए आभार प्रकट किया सम्मान समारोह में  महाप्रबंधक ए के सिंह,  ने अपने विचार प्रकट करते हुए कहा कि दिव्यांग्ता के प्रति संवेदनशील बनकर ही हम मुख्य धारा से जुड़ सकते हैं और सबका साथ सबका विकास कर सकते हैं वहीं  महाप्रबंधक  प्रबोध कुमार ने दिव्यांग जनों को समाज का मुख्य स्तंभ बताया और उनके कर्मठ योगदान पर प्रकाश डाला।    रिपोर्टर -संतोष दिवेदी

Dakhal News

Dakhal News 4 December 2022

राजनीति

कमलनाथ ने पूरी यात्रा को किया एक्सपोज़ राहुल गाँधी की भारत जोड़ो यात्रा में पाकिस्तान ज़िंदाबाद के नारे लगने वाले मामले पर भाजपा प्रदेश अध्यक्ष वीडी  शर्मा ने कहा कि कमलनाथ ने तो पूरी यात्रा को ही एक्सपोज़ कर दिया लेकिन कमलनाथ को जवाब देना होगा कि उन्होंने भाजपा के कार्यकर्ताओं के खिलाफ गलत एफआईआर दर्ज क्यों करवाई कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ के भारत जोड़ो यात्रा में पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगने और कांग्रेस के लाइव ट्वीट किए जाने की बात स्वीकारने के बाद वे भाजपा के निशाने पर हैं वहीं इस मामले पर भाजपा प्रदेश अध्यक्ष विष्णु दत्त शर्मा ने कहा कि इस भारत जोड़ो यात्रा के अंदर पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगे और कमलनाथ ने पूरी यात्रा को एक्सपोज ही कर दिया उन्होंने कह दिया कि यात्रा में पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगे और वो वहां पर लाइव चल रहा था जिसके कारण वो कांग्रेस के ट्विटर हैंडल पर अपलोड हो गया और हमने डिलीट कर दिया शर्मा ने कहा कि कमलनाथ जी आपको अब इस बात का जवाब देना पड़ेगा कि यात्रा में पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगे और आपने स्वीकार  किया तो फिर आपने हमारे कार्यकर्ताओं पर गलत एफआईआर क्यों की वीडी शर्मा ने कहा कि आपने जो मध्यप्रदेश की धरती पर कलंकित किया है...उसका जवाब आपको जनता को देना पड़ेगा आपको राहुल गाँधी को और भारत जोड़ो यात्रा का मध्यप्रदेश में नेतृत्व करने वाले दिग्विजय सिंह को प्रदेश की साढ़े आठ करोड़ जनता से माफ़ी मांगनी होगी शर्मा ने कहा आपने भारत जोड़ो यात्रा के दौरान मध्यप्रदेश की धरती को कलंकित किया है। 

Dakhal News

Dakhal News 5 December 2022

अक्सर अपने बयानों से सुर्खियों में रहने वाले दिग्विजय सिंह ने विपक्ष को एक और मुद्दा दे दिया है। मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने शांति धारीवाल से कहा कि 'शांति, आज से बरात संभालो'। राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा के संयोजक और मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह अपने बयानों को लेकर अक्सर सुर्खियों में रहते है। कोटा एयरपोर्ट पर दिग्विजय सिंह ने भारत जोड़ो यात्रा को 'बरात' कहा तो कांग्रेसी नेताओं ने जमकर ठहाके लगाए। हालांकि, अब दिग्विजय सिंह ने यात्रा को बरात बोलकर विपक्ष को मुद्दा दे दिया है।   दरअसल हुआ यूं कि राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा का रविवार को राजस्थान में पदार्पण हुआ। इस मौके पर राहुल गांधी के स्वागत के लिए फ्लाइट से राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव केसी वेणुगोपाल, मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह, पूर्व केंद्रीय मंत्री जयराम रमेश आए। सभी नेता कोटा एयरपोर्ट पर कुछ देर के लिए ठहरे थे। ये सभी लोग कोटा एयरपोर्ट पर विमान से उतरे तो एयरपोर्ट के लॉज में कुछ देर विश्राम करने पहुंचे थे। इसी दौरान दिग्विजय सिंह ने राजस्थान सरकार में यूडीएच मंत्री शांति धारीवाल को कहा- 'शांति, आज से बरात संभालो।' शोर शराबे में यह आवाज शांति धारीवाल को साफ सुनवाई नहीं दी।    मंत्री शांति धारीवाल ने दोबारा दिग्विजय सिंह से पूछा- 'क्या कह रहे हैं' तो दिग्विजय सिंह ने दुबारा कहा- 'आज से बरात संभालो।' यह बात सुनकर मंत्री शांति धारीवाल ने पलट कर जवाब दिया कि 'सारी तैयारियां है साहब।' इसके बाद वहां मौजूद नेताओं ने जमकर ठहाके लगाए। कांग्रेस नेता राहुल गांधी कुंवारे हैं। उनकी शादी नहीं हुई है। ऐसे में भारत जोड़ो यात्रा को 'बरात' कहने से दिग्विजय सिंह ने बीजेपी को बड़ा मुद्दा हाथ में सौंप दिया है।   रिपोर्ट- पल्लवी परिहर

Dakhal News

Dakhal News 5 December 2022

मीडिया

'BQ प्राइम’ से बतौर कंसल्टेंट जुड़ टीवी न्यूज की दुनिया के जाने-माने चेहरे और सीनियर न्यूज एंकर सुमित अवस्थी के बारे में एक बड़ी खबर निकलकर सामने आयी है। दरअसल, खबर यह है कि वह अब क्विंटिलियन बिजनेस मीडिया ग्रुप  की हिंदी न्यूज वेबसाइट ‘BQ प्राइम’ से बतौर कंसल्टेंट जुड़ गए हैं। ‘BQ प्राइम हिंदी’ पर उनका पहला वीडियो भी आ गया है, जिसमें उन्होंने जजों की नियुक्ति पर अपनी बेवाक राय भी दी है। बता दें कि इससे पहले सुमित अवस्थी ‘एबीपी न्यूज’ में वाइस प्रेजिडेंट (न्यूज व प्रॉडक्शन) के तौर पर अपनी सेवाएं दे रहे थे। सुमित अवस्थी ने वर्ष 2018 में ‘एबीपी न्यूज’ में बतौर कंसल्टिंग एडिटर जॉइन किया था। इससे पहले वह ‘नेटवर्क18’  में डिप्टी मैनेजिंग एडिटर के तौर पर अपनी जिम्मेदारी संभाल रहे थे। वह ‘जी न्यूज’  में रेजिडेंट एडिटर भी रह चुके हैं। सुमित अवस्थी करीब पांच साल तक ‘आजतक’ में भी रह चुके हैं। यहां वह डिप्टी एडिटर के तौर पर कार्यरत थे। सुमित राजनीति में अच्छी पकड़ और बेहतर रिपोर्टिंग के लिए जाने जाते हैं। सुमित अवस्थी को पत्रकारिता के क्षेत्र में काम करने का दो दशक से ज्यादा का अनुभव है। पत्रकारिता में उल्लेखनीय योगदान के लिए उन्हें अब तक ‘दादा साहेब फाल्के एक्सीलेंस अवॉर्ड‘ और ‘माधव ज्योति अवॉर्ड‘ समेत तमाम प्रतिष्ठित अवॉर्ड्स से नवाजा जा चुका है। इसके साथ ही उन्हें प्रतिष्ठित ‘एक्सचेंज4मीडिया न्यूज ब्रॉडकास्टिंग अवॉर्ड्स’ (ENBA) से भी नवाजा जा चुका है। सुमित अवस्थी का जन्म लखनऊ (उत्तर प्रदेश) में हुआ है। केंद्रीय विद्यालय, इंदौर से अपनी स्कूलिंग पूरी करने के बाद उन्होंने इंदौर में ही ‘होलकर साइंस कॉलेज’ से ग्रेजुएशन की है। इसके बाद उन्होंने दिल्ली स्थित ‘भारतीय विद्या भवन‘ से पत्रकारिता की पढ़ाई की है।   रिपोर्ट-  शैफाली गुप्ता

Dakhal News

Dakhal News 4 December 2022

(प्रवीण कक्कड़)  भारत में राजनीतिक, धार्मिक और सांस्कृतिक यात्राओं का लंबा इतिहास है। कभी आमजन से जुड़ने, कभी समाज में चेतना को विकसित करने तो कभी राजनितिक परिवर्तन लाने के लिए यात्राएं निकलती रही हैं। इन दिनों देश में सबसे ज्यादा बातचीत किसी चीज की हो रही है तो वह है राहुल गांधी की कन्याकुमारी से कश्मीर तक जाने वाली पदयात्रा की। असल में बात किसी व्यक्ति की नहीं है बल्कि बात उस भावना की है जो लोगों को आकर्षित करती है। इतिहास में ऐसे अनेक प्रसंग मिलते हैं जब महान हस्तियों ने जनता से जुड़ने के लिए और अपनी बात रखने के लिए लंबी-लंबी यात्राएं की।  अगर हम त्रेता युग से शुरू करें तो भगवान राम ने भी अयोध्या से रामेश्वरम तक पदयात्रा करने के बाद ही लंका पर चढ़ाई की थी। भगवान चाहते तो अपने भृकुटी विलास से ही किसी भी शत्रु को परास्त कर सकते थे लेकिन जब वह पैदल दूरदराज के इलाकों से निकले और जन सामान्य ने उनके दर्शन किए और उन्होंने जन सामान्य की परिस्थिति का अवलोकन किया तो नर और नारायण एक हो गए। भारत में पुराण काल में ही दूसरी महत्वपूर्ण यात्रा अगस्त मुनि की मानी जाती है। वह पहले ऐसे व्यक्ति माने जाते हैं जिन्होंने विंध्याचल पर्वत को पार किया। उत्तर भारत और दक्षिण भारत को सांस्कृतिक रूप से जोड़ने में अगस्त्यमुनि का ही महात्म्य हमारे ग्रंथों में बताया गया है। तीसरी महत्वपूर्ण पदयात्रा आदि गुरु शंकराचार्य की है। केरल में जन्मे शंकराचार्य ने पूरे भारत का भ्रमण किया और चारधाम की स्थापना की। उनकी इन्हीं यात्राओं से सनातन धर्म में एक नई ऊर्जा का संचार हुआ। इसी तरह गौतम बुद्ध और गुरु नानक देव जैसी विभूतियों ने उस दौर में यात्राएं करके जनमानस के बीच अपनी आध्यात्मिक चेतना का प्रसार किया। भारत के इतिहास में कुछ राजनीतिक यात्राएं भी हैं जिन्होंने भारत की राजनीति की दशा और दिशा को पूरी तरह बदल कर रख दिया। महात्मा गांधी की दांडी यात्रा ने ब्रिटिश शासन की नींव हिला दी। इस यात्रा में महात्मा गांधी ने। अहमदाबाद से दांडी तक 241 किलोमीटर की यात्रा करके नमक का कानून तोड़ा और भारतीय जनमानस में स्वतंत्रता के प्रति राष्ट्रीय चेतना का संचार किया। विनोबा भावे ने भी भूदान आंदोलन के दौरान लंबी पदयात्रा की। किंतु आजादी के बाद सबसे लंबी पैदल यात्रा पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर को है। 6 जनवरी 1983 को  तमिलनाडु से निकली चंद्रशेखर की यात्रा 25 जून 1983 को दिल्ली में खत्म हुई। लगभग 170 दिन तक की इस यात्रा में चंद्रशेखर 4000 से अधिक किलोमीटर पैदल चले थे।  चंद्रशेखर की पदयात्रा का उद्देश्य था पीने का पानी, कुपोषण से मुक्ति, हर बच्चे की पढ़ाई, हर इंसान को स्वास्थ्य का अधिकार और सामाजिक सद्भाव। इस पदयात्रा से चंद्रशेखर भारत की राजनीति में एक ताकतवर राजनेता बन कर उभरे। बाद में कुछ समय के लिए देश के प्रधानमंत्री भी बने।  भारतीय राजनीति में दक्षिण पंथ को मजबूती से स्थापित करने वाले लालकृष्ण आडवाणी भी एक नहीं दो-दो बार यात्रा पर निकले। किंतु आडवाणी पैदल नहीं चले। बल्कि अपनी पहली यात्रा में रथ पर सवार होकर 1990 में सोमनाथ से अयोध्या के लिए निकल पड़े। उनकी रथयात्रा को लालू यादव ने बिहार में रोक दिया। इसके बाद वर्ष 2011 में आडवाणी की जनचेतना रथ यात्रा भ्रष्टाचार के खिलाफ 38 दिन तक चली और 23 राज्यों व चार केंद्र शासित प्रदेशों से होकर गुजरी। इससे पहले वर्ष 2003 में वाईएसआर रेड्डी ने पदयात्रा की थी। 2013 में चंद्रबाबू नायडू भी पदयात्रा पर निकले थे। 2017 में दिग्विजय सिंह ने मध्यप्रदेश में नर्मदा परिक्रमा यात्रा निकाली। कांग्रेस नेता राहुल गांधी भी 7 सितंबर 2022 से पदयात्रा कर रहे हैं। कन्याकुमारी से प्रारंभ उनकी पदयात्रा का आधे से अधिक मार्ग तय हो चुका है। भारत जोड़ो यात्रा के नाम से विख्यात यह 150 दिन की पदयात्रा कश्मीर में पूरी होगी। राहुल गांधी कहते हैं कि यह गैर राजनीतिक यात्रा है। जनता के दुख दर्द को समझने की यात्रा है। बेरोजगारी, महंगाई, गरीबी जैसी समस्याओं पर जनचेतना जागृत करने की यात्रा है। राहुल गांधी की यात्रा में बिना बुलाए बड़ी संख्या में लोगों का पहुंचना इस बात का प्रतीक है कि इस यात्रा से जनता में राजनीतिक चेतना का विस्तार हो रहा है। साथ ही इतना अवश्य है कि अपनी यात्रा के दौरान राहुल गांधी ने आमजन से मिलकर देश की जनता के बीच अपनी छाप छोड़ी है। राजनीति हस्तियों की यात्राएं जनता से सीधा संवाद करने का अवसर प्रदान करती हैं। और राजनीतिक मुद्दों पर जनजागृति का काम भी करती हैं। निश्चित रूप से जनता के बीच जाने का फायदा तो होता ही है। विश्व के इतिहास में जिन-जिन राजनेताओं ने राजनीतिक यात्राएं की हैं उन्हें एक नई पहचान मिली है जनता से उनकी कनेक्टिविटी भी स्थापित हुई है। यात्राएं देश को जानने, समस्याओं को समझने, जनता से रूबरू होने का सबसे सुगम और सरल माध्यम हैं।

Dakhal News

Dakhal News 3 December 2022

समाज

पीएम मोदी और अमित शाह ने डाला वोट गुजरात विधानसभा चुनाव में दूसरे और अंतिम चरण के लिए मतदान जारी है। आज 14 जिलों की 93 सीटों के लिए वोट डाले जा रहे हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने भी अहमदाबाद में अपना वोट डाला। मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल ने भी मतदान किया। इस मौके पर पीएम मोदी ने शांतिपूर्ण तरीके से चुनाव कराने के लिए चुनाव आयोग को बधाई दी और गुजरात, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के चुनावों में मतदान के लिए देश की जनता को भी शुक्रिया कहा।   आज अहमदाबाद, आणंद, खेड़ा, महिसागर, बनासकांठा, पाटन, मेहसाणा, साबरकांठा, अरावली, गांधीनगर,, पंच महल, दाहोद, वडोदरा और छोटा उदयपुर सहित 14 जिलों के लिए मतदान हो रहा है। इससे पहले 1 दिसंबर को प्रथम चरण में 19 जिलों की 89 विधानसभा सीटों के लिए वोट पड़े थे। गुजरात विधानसभा का कार्यकाल 18 फरवरी 2023 को खत्म हो रहा है और संविधान के अनुसार उससे पहले नई विधानसभा का गठन होना जरुरी है। सरकार बनाने के लिए किसी भी दल को 92 सीटें चाहिए। चुनाव के नतीजे 8 दिसंबर को आएंगे लेकिन आज शाम को टीवी चैनल्स के एग्जिट पोल के नतीजे आ जाएंगे।   चुनाव आयोग की मतदाता सूची में इस बार गुजरात विधानसभा चुनाव के लिए 4 करोड़ 91 लाख 17 हजार 308 लोग शामिल हैं। इनमें युवा मतदाताओं की संख्या अधिक है। गुजरात चुनाव के लिए सीएम शिवराज सिंह चौहान ने भी मतदाताओं से मतदान की अपील की है। उन्होने ट्वीट करते हुए कहा कि ‘चुनाव, लोकतंत्र का महान पर्व है और इसमें हर नागरिक की भागीदारी सुनिश्चित होनी चाहिए। आज गुजरात विधानसभा चुनाव के मतदान का दूसरा चरण है। आप सभी मतदाता भाई-बहनों से आग्रह है कि गुजरात की प्रगति एवं उन्नति के लिए अपना अमूल्य मत अवश्य दीजिये।’ बता दें कि सीएम शिवराज के साथ मध्यप्रदेश के कई दिग्गज नेता गुजरात चुनाव प्रचार के लिए पहुंचे थे।   रिपोर्ट- नईम शेख

Dakhal News

Dakhal News 5 December 2022

बिशप पी.सी सिंह मामले पर EOW की कार्रवाही   मध्यप्रदेश के जबलपुर में बिशप पीसी आए दिन चर्चा का विषय बने रहते हैं। बता दें कि बिशप पीसी सिंह जमीनों के फर्जीवाड़े और मिशनरी स्कूलों के फंड के गलत इस्तेमाल के आरोप में निलंबित हो चुके हैं। बीते दिनों आर्थिक अपराध प्रकोष्ठ (EOW) लगातार उनपर बड़ी कार्रवाई कर रहा है। दरअसल, EOW को पीसी सिंह के खिलाफ अवैध कमाई के कई अहम सबूत मिले है और आज एक बार फिर ईओडब्ल्यू ने बड़ा खुलासा किया है, आइए जानते हैं क्या है पूरा मामला।    दरअसल, जेल में बंद बर्खास्त बिशप पी.सी सिंह के मामले में ईओडब्ल्यू ने खुलासा किया है। चर्च ऑफ़ नॉर्थ इंडिया में मॉडरेटर रहते हुए उसका इतना खौफ था कि उनके खिलाफ कोई भी बोलने की हिम्मत नहीं करता था। केवल इतना ही नहीं, पी.सी सिंह के खिलाफ अगर कोई भी आवाज उठाया करता था तो वह उसका पद छीन लेता था और अभी तक 2 से 3 लोग इसके शिकार हो चुके है वो सामने आए हैं।   गामी चर्च ऑफ नार्थ इंडिया की दिल्ली में 7 से 9 दिसंबर तक आयोजित होने वाली बैठक में शामिल किया जा सकता है। प्रबल दत्त वह बिशप है जो कि पी.सी सिंह की मनमानियों के खिलाफ जमकर आवाज उठाई थी, जिन्हें बाद में पद से हटा दिया गया था। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, बर्खास्त हुए प्रबल दत्त को दुर्गापुर डायोसिस का बिशप बनाया जा सकता है। वहीं, दुर्गापुर बिशप समीर खिमला को जबलपुर डायोसिस में स्थानांतरित किया जा सकता है। प्राप्त जानकारी के अनुसार, जेल में बंद पी.सी सिंह के खिलाफ EOW ने चालान तैयार कर लिया है। जिसे आज कोर्ट में पेश किया जा सकता है। बता दें चालान कोर्ट में पेश करने के बाद EOW कोर्ट में पीसी सिंह के बेटे पियूष पाल और सुरेश जैकब सहित अन्य कई लोगों पर चार्जशीट पेश करेगी।   रिपोर्ट- सत्यम शर्मा

Dakhal News

Dakhal News 5 December 2022

पेज 3

बॉलीवुड एक्टर अली फज़ल ने मिर्ज़ापुर की पूरी टीम के साथ सोशल मीडिया पर फोटो शेयर कर जानकारी दी है कि इसके तीसरे पार्ट की शूटिंग पूरी हो गई है | उन्होंने इमोशनल नोट लिखते हुए कहा कि इस सीजन का सफर उनके लिए बहुत अलग और शानदार रहा है | अली फजल ने लिखा, 'ये मैसेज मेरी सबसे प्यारी टीम के लिए है , मिर्जापुर की दुनिया में आपके द्वारा लाए गए प्यार और कड़ी मेहनत के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद। मिर्जापुर सीजन 3 का सफर मेरे लिए बहुत अलग और शानदार रहा है। लेकिन आपको पता होना चाहिए कि मैं ऐसा इसलिए कह रहा हूं क्योंकि मैं और गुड्डू पंडित उन सेट्स पर काम करने वाले व्यक्ति से प्रेरणा हासिल करते हैं।' अली फजल ने आगे लिखा, 'ये इस सीरीज के बाकी दो सीजन का एक्सपीरियंस भी मेरे लिए कुछ ऐसा ही था। हो सकता है कि आपको इसका एहसास न हो, लेकिन आप सभी ने मेरी इस तरह से बहुत मदद की है, जिसे मैं लिख नहीं सकता। ये मेरे को-एक्टर्स के लिए- आप जानते हैं कि आप सबसे अच्छे हैं और आपको पता होना चाहिए कि मैं आपसे बहुत प्यार करता हूं। अंत में मैं अमेज़न और एक्सेल को धन्यवाद कहना चाहता हूं।' अली के अपकमिंग प्रोजेक्ट्स की बात करें तो उन्होंने पिछले साल अनाउंसमेंट की थी कि वो जेरार्ड जेम्स बटलर की एक्शन फिल्म कंधार में नजर आएंगे। ये फिल्म साल 2023 में रिलीज के लिए तैयार है। जिसके बाद अली अफगान ड्रीमर्स में भी दिखेंगे। हॉलीवुड प्रोजेक्ट्स के अलावा अली जल्द ही वेब सीरीज मिर्जापुर सीजन 3 में भी नजर आएंगे।

Dakhal News

Dakhal News 5 December 2022

सलमान खान ने अपनी अपकमिंग फिल्म 'किसी का भाई किसी की जान' की शूटिंग खत्म हो  चुकी है। इसकी जानकारी खुद भाई जान ने अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर फोटो शेयर करके दी है। भाईजान ने फोटो के साथ कैप्शन लिखते हुए कहा है कि उन्होंने फिल्म की शूटिंग खत्म कर ली है | इस खबर की जानकारी मिलने बाद सलमान के फैंस काफी ज़्यादा एक्साइटेड है | सलमान की यह  फिल्म ईद 2023 में रिलीज़ होगी | सलमान खान ने अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर फिल्म के सेट से फोटो डालते हुए लिखा- \"शूट रैप, किसी का भाई किसी की जान, ईद 2023 पर आ रही है।'' सलमान इस लुक में काफी अलग दिख रहे हैं | इस फोटो में सलमान ब्लैक टी-शर्ट, ब्लैक पैंट और एक काफी ज्यादा प्रिंट वाली ब्लैक जैकेट में दिख रहे हैं। इसके अलावा उन्होंने ब्लैक कलर का ही सनग्लासेस भी लगाया हुआ है | बड़े-बड़े बालों में सलमान का नेवर सीन अवतार देखने को मिल रहा है। सलमान के फोटो डालते ही उसपर सोशल मीडिया यूजर्स के कॉमेंट्स की बाढ़ आ गई। एक यूजर ने लिखा- \"ये लुक वायरल होने वाला है।\" वहीं एक ने लिखा- \"बॉलीवुड का असली किंग\" वहीं एक दूसरे यूजर ने लिखा- \"भाई की झलक सबके अलग।\"  किसी का भाई किसी की जान का डायरेक्शन फरहाद सम्जी ने किया है | सलमान के अलावा फिल्म में वेंकटेश दग्गुबाती, पूजा हेगड़े, पलक तिवारी, राघव जुयाल और शहनाज गिल भी अहम भूमिका में होंगे | ये फिल्म सलमान खान की प्रोडक्शन कंपनी 'सलमान खान फिल्म्स' के बैनर तले बनी है। सलमान को आखिरी बार अपने बहनोई और एक्टर आयुष शर्मा की फिल्म 'अंतिम' में देखा गया था। इसके अलावा वो साउथ के सुपरस्टार चिरंजीवी के गॉडफादर में भी नजर आए थे। किसी का भाई किसी की जान के अलावा सलमान टाइगर फ्रेंचाइजी की तीसरी फिल्म में नजर आएंगे। टाइगर 3 भी 2023 में ही रिलीज होगी। सलमान इन सब के अलावा जनवरी में रिलीज होने वाली शाहरुख खान की फिल्म पठान में भी कैमियो करते नजर आएंगे।

Dakhal News

Dakhal News 4 December 2022

दखल क्यों

दिल को लुभा देने वाला डांस   गवान किसी से कुछ छीन लेता है, तो उसे कुछ खास भी जरूर देता है. हम बात कर रहे है रतलाम की एक ऐसी बालिका की जो अपने हुनर से अपनी कमजोरी को मात दे रही है. हम बात कर रहे है जन चेतना बधिर एवं मंदबुद्धि माध्यमिक विद्यालय में पढ़ने वाली दीक्षिका गोस्वामी की. 12 साल की दीक्षिका कक्षा 5वी में पढ़ती है. जो बोल व सुन नहीं सकती है और केवल एक ही पैर से चलती है लेकिन गाने और ढोल की थाप पर जबरदस्त डांस करती है जन्म से ही उसके शरीर में कई कमियां हैं, लेकिन वह खुद को किसी से कमजोर नहीं समझती दीक्षिका के डांस को देखकर हर कोई आश्चर्य में पड़ जाता है. दीक्षिका जब डांस करती है तब कोई भी यह अंदाजा नहीं लगा सकता कि वह शरीर से निःशक्त है अपने हुनर से दीक्षिका अब सशक्त है।    दीक्षिका की मां ममता रतलाम के डोसिगांव में रहती है, जिनकी शादी मंदसौर के विवेकगिरी गोस्वामी से हुई है दीक्षिका का जन्म मंदसौर में हुआ, जन्म के समय उसका एक पैर विकसित नहीं हुआ था. 4 महीने बाद आवाज लगाने पर कोई हलचल ना होने पर जब डॉक्टर को बताया तो मालूम हुआ कि वह सुन और बोल भी नही सकती. मंदसौर में दीक्षिका की पढ़ाई के लिए दिव्यांग स्कूल की व्यवस्था नहीं होने से उसके पिता ने उसे रतलाम अपने नाना के यहां छोड़ दिया. जिससे दीक्षिका को बेहतर शिक्षा मिल सके. दीक्षिका के मामा दशरथ गिरी बताते है कि वह 4 वर्ष की थी जब से हमारे पास है. दीक्षिका जब डांस करती है तो उसे हर कोई देख कर हैरान रह जाता है. दीक्षिका को आगे अच्छा बड़ा मंच मिलने की उम्मीद उसके परिवार के लोग करते है।    दीक्षिका की शिक्षिका उषा तिवारी के मुताबिक जब छोटी उम्र में दीक्षिका उनके पास आई, तब उसमें हिचक थी. धीरे – धीरे वह सब के साथ घुल मिल गई. जब दीक्षिका ने टीवी देखना शुरू किया तो उसने टीवी में इशारों से डांस स्टेप सीखना शुरू किया. जब मैने उसे डांस करते देखा तो उससे इशारों में पूछा कि क्या उसे डांस पसंद है, तो उसने हामी भरी. हमने स्कूल में एक कार्यक्रम में उसे पार्टिसिपेट करवाया, तब हम घबराये भी थे कि कहीं वह गिर ना जाये. लेकिन दीक्षिका ने अपने डांस से सभी को हैरत में डाल दिया. उसके लिए यह गॉड गिफ्ट है कि वह केवल इशारों में सिख कर हूबहू एक्सप्रेशन व स्टेप्स कर लेती है. जबकि उसे गाना सुनाई भी नहीं देता है. दीक्षिका बड़ी होकर डॉक्टर बनना चाहती है. उसका सपना है कि वह सभी का इलाज करे।    रिपोर्ट-  सत्यम शर्मा

Dakhal News

Dakhal News 5 December 2022

पीड़ित छात्रा का अस्पताल में चल रहा है इलाज टीकमगढ़ में मनचलों  की छेड़ छाड़ से परेशान नाबालिक छात्रा डिप्रेशन में चली गई डिप्रेशन के चलते  छात्रा का अस्पताल में इलाज चल रहा है परिजनों का आरोप है कि कुछ मुस्लिम लड़के कोचिंग से घर आने पर लड़की का पीछा करते थे और उसको परेशान करते थे  जिसके चलते वह डिप्रेशन में चली गई  मामला टीकमगढ़ मोटे मोहल्ला का है जहां करीब 6 महीने से कुछ  लड़के एक  नाबालिग छात्रा को परेशान कर रहे थे  बच्ची परेशान होकर  डिप्रेशन में चली गई बच्ची को इलाज के लिए हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया है जहां उसका इलाज जारी है  बच्ची के परिजनों का आरोप है कि कुछ   बच्ची कोचिंग से घर लौट रही थी तभी   सोहेल खान , नोमान खान और मुन्ना के साथ इ अन्य ने बच्ची का पीछा किया  जिससे वह बुरी तरीके से डर गई और वह डिप्रेशन में चली गई जिसके चलते उसकी हालत खराब हुई वहीं पुलिस ने मामला  जांच शुरू कर दी है कोतवाली थाना प्रभारी मनीष कुमार ने आरोपियों पर जल्द कार्रवाई की बात कही  है।   

Dakhal News

Dakhal News 4 December 2022

Video

Page Views

  • Last day : 8492
  • Last 7 days : 59228
  • Last 30 days : 77178
x
This website is using cookies. More info. Accept
All Rights Reserved © 2022 Dakhal News.