. हजारो लोग हैं, जिनके पास रोटी है | चांदनी रातें हैं,लड़कियां हैं | और 'अक्ल' है | हजारों लोग हैं,जिनकी जेब में | हर वक्त कलम रहती है | और हम हैं | कि कविता लिखते हैं... | पाश
 
 

 LATEST

 दखल क्यों?


इसलिए की ''स्टेटस को'' जो अपना स्टेटस खो चुका है॰ यथास्थिति दरअसल जस का तस् बने रहना नहीं है पिछङ जाना है॰ चाय की प्याली में तूफ़ान उठाकर यथास्थिति नहीं तोडी जाती . हमारे बुद्धिजीवियों ने काफ़ी हाउस में बहुत से बुलबुले उडाये है

[आगे पढ़ें]

  ताज़ा समाचार


अब गर्भ में तैयार होंगे अभिमन्यु

अटल बिहारी हिन्दी विवि ने शुरू किया कोर्स

वह दिन दूर नहीं जब दंपती अपनी संतान में जैसे संस्कार चाहते &...
 
कामगारों में भारत को ‎विक‎सित राष्ट्र में बदलने का सामर्थ्य
कामगारों में भारत को ‎विक‎सित राष्ट्र में बदलने का सामर्थ्य
श्रम मंत्री तोमर ‎ने ‎विश्वकर्मा और सुë...
 
भोपाल एक ऐतिहासिक दर्पण : एक हजार वर्ष का इतिहास

एमपी के उच्च एवं तकनीकी शिक्षा मंत्री उमाशंकर गुप्ता ने "भोपाल एक ऐतिहासिक दर्पण : एक हजार वर्ष का इतिह...
 
एक लाख पुलिसवाले , मकान सिर्फ 35 हजार

मध्यप्रदेश के गृहमंत्री बाबूलाल गौर ने कहा कि प्रदेश भर में पुलिसकर्मियों की संख्या एक लाख सात हजार ...
 
सपनि में वन टाइम सेटलमेंट


राज्य सरकार ने सड़क परिवहन निगम को पूरी तरह बंद करने की तैयारी कर ली है। जहां तक कर्मचारियों का सवाल है ...
 
 

  कविता


Google  

 ADVERTISEMENTS

Show all online stations


 

Copyright - dakhal.net

Samprati MP Presents "dakhal.net"