. हजारो लोग हैं, जिनके पास रोटी है | चांदनी रातें हैं,लड़कियां हैं | और 'अक्ल' है | हजारों लोग हैं,जिनकी जेब में | हर वक्त कलम रहती है | और हम हैं | कि कविता लिखते हैं... | पाश
 
 

 LATEST

 दखल क्यों?


इसलिए की ''स्टेटस को'' जो अपना स्टेटस खो चुका है॰ यथास्थिति दरअसल जस का तस् बने रहना नहीं है पिछङ जाना है॰ चाय की प्याली में तूफ़ान उठाकर यथास्थिति नहीं तोडी जाती . हमारे बुद्धिजीवियों ने काफ़ी हाउस में बहुत से बुलबुले उडाये है

[आगे पढ़ें]

  ताज़ा समाचार


आयुर्वेद का डॉक्टर कैसे बना पत्रकार

महेश दीक्षित
पत्रकारिता में प्रयोगधर्मिता के लिए अपनी पहचान बना चुके पत्रकार प्रमोद भारद्वाज उन य...
 
आर्थिक उदारीकरण

उपभोक्ता, सामाजिक सरोकार की विदाई
भरतचन्द्र नायक
उत्तम खेती मध्यम वान, अधम चाकरी भीख निदान कहावत आज &...
 
तांत्रिक शिवानी दुर्गा ने की चिता पर पूजा, USA से कर चुकी हैं पीएचडी

उज्जैन में जलती चिता पर की मसान पूजा

मुंबई की अघोर तांत्रिक शिवानी दुर्गा ने बुधवार रात उज्जैन के चक...
 
ड्रीम गर्ल भी फैन हैं सूत्रधार पत्रकार की


महेश दीक्षित
सांस्कृतिक पत्रकारिता के क्षेत्र में करीब तीन दशकों से निरंतर सक्रिय विनय उपाध्याय क...
 
शरद को झाबरमल्ल शर्मा पुरस्कार

आलोक ,हिमांशु ,राजीव ,जयराम ,राहुल ,स्नेहा ,अनिल भी हुए सम्मानित

बंसल न्यूज़ के हैड शरद द्विवेदी को सप्रí...
 
 

  कविता


Google  

 ADVERTISEMENTS

Show all online stations