. हजारो लोग हैं, जिनके पास रोटी है | चांदनी रातें हैं,लड़कियां हैं | और 'अक्ल' है | हजारों लोग हैं,जिनकी जेब में | हर वक्त कलम रहती है | और हम हैं | कि कविता लिखते हैं... | पाश
 
 

 LATEST

 दखल क्यों?


इसलिए की ''स्टेटस को'' जो अपना स्टेटस खो चुका है॰ यथास्थिति दरअसल जस का तस् बने रहना नहीं है पिछङ जाना है॰ चाय की प्याली में तूफ़ान उठाकर यथास्थिति नहीं तोडी जाती . हमारे बुद्धिजीवियों ने काफ़ी हाउस में बहुत से बुलबुले उडाये है

[आगे पढ़ें]

  ताज़ा समाचार


इको फ्रेंडली महाकुम्भ


मध्यप्रदेश में सिंहस्थ की तैयारियां चल रही हैं। ऐसे में नगरीय प्रशासन मंत्री कैलाश विजयवर्गीय की ई&#...
 
आईएएस प्रदेश को आगे बढ़ाने पूरी क्षमता से करें काम

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश को आगे बढ़ाने में पूरी क्षमता से काम करें। प्रजातंत...
 
सांसद आदर्श ग्राम योजना में आर्थिक सामाजिक उत्थान ध्यान दें

मध्यप्रदेश के सांसदों की बैठक में शिवराज सिंह

सांसद आदर्श ग्राम योजना में सांसद स्वयं के द्वारा चय&#...
 
महिला-बाल विकास विभाग को मिले पुरस्कार

मध्यप्रदेश के महिला-बाल विकास विभाग को महिला सशक्तीकरण एवं बाल विकास के उत्कृष्ट प्रयासों के लिये हì...
 
डॉ. शैलेन्द्र श्रीवास्तव परिवहन आयुक्त

इंटरसिटी ट्रांसपोर्ट अथॉरिटी बनेगी

राज्य शासन ने भारतीय पुलिस सेवा के अधिकारी डॉ. शैलेन्द्र कुमाë...
 
 

  कविता


Google  

 ADVERTISEMENTS

Show all online stations


 

Copyright - dakhal.net

Samprati MP Presents "dakhal.net"