विशेष

  जनसम्पर्क, विधि एवं विधायी, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी, विमानन, धार्मिक न्यास एवं धर्मस्व मंत्री श्री पी.सी. शर्मा ने कहा है कि प्रदेश सरकार बालिकाओं की सम्पूर्ण शिक्षा को नि:शुल्क करने के लिए रूप रेखा तैयार करने जा रही हैं, जिसको शीघ्र ही मूर्तरूप प्रदान किया जाएगा। श्री शर्मा ने बालिकाओं से कहा कि वे किसी भी स्थिति में आर्थिक तंगी की वजह से अपनी पढ़ाई न छोड़ें। आवश्यकता होने पर स्थानीय पार्षद, विधायक से या स्वयं उनसे सम्पर्क करें। हर संभव आवश्यक मदद की जाएगी। श्री शर्मा ने शासकीय नवीन उच्चतर माध्यमिक विद्यालय, चूनाभट्टी के वार्षिकोत्सव समारोह में यह बात कही। जनसम्पर्क मंत्री श्री शर्मा ने मध्यप्रदेश के छिंदवाड़ा मॉडल का जिक्र करते हुए कहा कि प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ रोजगार सृजनकर्ता है। आज की स्थिति में छिंदवाड़ा के नौजवान और नव युवतियां स्थानीय, प्रादेशिक, राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर कार्य कर रहे हैं। श्री कमल नाथ ने न केवल छिंदवाड़ा में अधोसरंचनात्मक विकास किया है, अपितु रोजगार सृजन के उपाय कर क्षेत्र के लोगों को रोजगार भी प्रदान किए हैं। अब पूरे प्रदेश में रोजगार सृजन के लिए विभिन्न उद्योग धंधें लगाए जाएंगे। साथ ही रोजगार प्रदान करने के अन्य उपाय भी किये जाएंगे। जनसम्पर्क मंत्री श्री शर्मा ने कहा कि स्कूली विद्यार्थियों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्रदान करने के लिए समुचित उपाय किए जाएंगे। उन्होंने कहा कि जब भोपाल शहर स्मार्ट सिटी बन रहा है, तो स्कूल और उसकी कक्षाओं को भी स्मार्ट बनाया जाएगा। स्कूल का कोई भी कार्य रूकने नहीं देंगे। श्री शर्मा ने युवा संसद, कालिदास समारोह और मोगली उत्सव में प्रथम और द्वितीय स्थान प्राप्त करने वाले विद्यार्थियों को पुरस्कृत किया। समारोह की अध्यक्षता स्थानीय पार्षद श्रीमती सीमा प्रवीण सक्सेना ने की।  

Dakhal News

Dakhal News 18 January 2019

    इंदौर का  संदीप तेल हत्याकांड में जांच जिस दिशा तक पहुंची है उससे अंदाजा लगाया जा रहा है कि पुलिस मामले के खुलासे के करीब पहुंच गई है। पुलिस को जांच में यह भी पता चला कि रावजी बाजार क्षेत्र के बदमाश गब्बर चिकना उर्फ राजेश सोनकर व रवि चौहान उर्फ रवि चिकलिश का भी हत्या में हाथ हो सकता है। दोनों बदमाश गैंगस्टर सतीश भाऊ गिरोह के लिए काम करते हैं। गब्बर से कुछ दिनों पूर्व संदीप का विवाद भी हुआ था। संदीप ने उसे कमरे में बंद कर पिटाई कर दी थी। मेघदूतनगर निवासी चिकलिश शार्प शूटर है।संदीप की हत्या के पीछे सैकड़ों करोड़ का लेनदेन सामने आ रहा है। संदीप ने पिनेकल ड्रीम व डिजायर में करोड़ों रुपए निवेश किए थे। बिल्डर आशीष दास को भी करोड़ों रुपए ब्याज पर दिए थे। संदीप की हत्या के बाद बदमाशों के दो स्वार्थ पूरे हो रहे हैं। पहला पिनेकल से संदीप को बाहर करना, दूसरा बिल्डरों से अवैध वसूली करना। संदीप ने बहुत कम समय में अरबों रुपए कमा लिए थे। उसकी पहचान सट्टा किंग के रूप में भी थी। तत्कालीन एएसपी रमणसिंह सिकरवार की टीम ने उसे क्रिकेट सट्टा लगाने और नकली नोट के आरोप में पकड़ा था। संदीप एक बार पुलिस को चकमा देकर दीवार कूद गया था। तत्कालीन आईजी संजय राणा ने भी संदीप के खिलाफ कार्रवाई की थी। वह बिल्डरों को करोड़ों रुपए उधार देकर तगड़ा ब्याज वसलूता था। सट्टे, ब्याज के साथ वह डिब्बा कारोबार में भी लिप्त था।एसपी (पूर्वी) अवधेश गोस्वामी के मुताबिक, संदीप के खिलाफ 11 आपराधिक केस दर्ज होने की जानकारी मिली है। पुलिस साथियों की भी भूमिका जांच रही है।   हत्याकांड का एक संदेही रोहित सेठी है जिसका केबल को लेकर संदीप से विवाद था। रोहित के साथी मनोहर वर्मा ने कबूल किया है कि संदीप और रोहित के बीच 19 करोड़ के लेन-देन को लेकर विवाद चल रहा था।पुलिस ने रोहित के घर की छानबीन की। उसकी पत्नी को हिरासत में लिया । पुलिस को जांच में पता चला है कि रोहित दो दिन पहले तक इंदौर में ही था। अचानक बुधवार दोपहर के बाद उसका मोबाइल बंद हो गया। पुलिस ने पत्नी को हिरासत में लेकर पूछताछ की तो पता चला कि वह घर पर भोपाल जाने का बोलकर निकला था। उसके बाद से मोबाइल बंद हो गया और उससे कोई संपर्क नहीं हुआ।पुलिस ने  मनोहर वर्मा से पूछताछ की तो उसने बताया कि रोहित ने संदीप को रुपए के बदले जमीन देने की बात कही थी। रोहित ने जमीन के दाम बढ़ाकर बताए। वर्मा ने  ने अपना और रोहित का हत्या में हाथ होने से इनकार किया है। पुलिस ने गुरुवार को संदीप के ड्राइवर अमित बेरवा, पूर्व कर्मचारी दीपक, दोस्त सुमित अवस्थी से भी पूछताछ की। इसके बाद पुलिस ने बब्बर चिकना, अल्पेश चौहान व सुमित सिरोलिया की तलाश शुरू कर दी। पुलिस ने मनीष शर्मा को हिरासत में ले लिया है। पुलिस के मुताबिक गाड़ी में तीन लोग थे। दो शूटर और एक गाड़ी चालक। तीनों ही भौंरासला (उज्जैन रोड) की ओर से गलियों में घुमते हुए विजयनगर चौराहे तक पहुंचे। हत्या के बाद वे भोपाल की ओर भागे।  

Dakhal News

Dakhal News 18 January 2019

राजनीति

  आने वाले लोकसभा चुनाव में भाजपा को कड़ी टक्कर देने के लिए ममता बनर्जी बीजेपी विरोधी दलों को साथ लाने का काम कर रही हैं।पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी लोकसभा चुनाव 2019 को लेकर मैदान में उतर चुकी हैं। इसके लिए अब ममता 19 जनवरी को बड़ी रैली का आयोजन करने जा रही है। जहां भाजपा विरोधी पार्टियों को रैली में आमंत्रित किया गया है। इस रैली को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने समर्थन दे दिया है। राहुल गांधी ने चिट्ठी लिखते हुए कहा है कि पूरा विपक्ष एकजुट है। मैं ममता दीदी को एकता और उम्मीद के इस प्रदर्शन को समर्थन देते हैं जो एक देश का संदेश देगा। तृणमूल कांग्रेस ने दावा किया है कि आज़ादी के बाद ये विपक्ष की सबसे बड़ी रैली होगी। समाजवादी पार्टी, बहुजन समाजवादी पार्टी, डीएमके, जनता दल यूनाइटेड (सेक्युलर ) , कांग्रेस तेलगुदेशम पार्टी के सदस्यों के रैली में शामिल होने की खबर है। आने वाले लोकसभा चुनाव में भाजपा को कड़ी टक्कर देने के लिए ममता बनर्जी बीजेपी विरोधी दलों को साथ लाने का काम कर रही हैं। 19 जनवरी को कोलकाता के सबसे बड़े मैदान ब्रिगेड परेड ग्राउंड में पार्टी की महारैली होने वाली है। इस रैली में भाजपा विरोधी गुटों को आमंत्रित किया गया है। इस रैली में विपक्षी नेताओं में नेशनल कॉन्फ्रेंस के शीर्ष नेता फारूक अब्दुल्ला, उमर अब्दुल्ला, डीएमके अध्यक्ष एमके स्टालिन, दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) सुप्रीमो शरद पवार, उत्तर प्रदेश के पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने सहमति दे दी है। रिपोर्ट्स के मुताबिक इस रैली में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी तथा बहुजन समाज पार्टी की प्रमुख मायावती खुद नहीं शामिल होकर अपना प्रतिनिधि भेजेंगे। बसपा से सतीश चंद्र मिश्रा,कांग्रेस से मल्लिकार्जुन खड़गे शामिल होंगे।साथ ही सीएम ममता की इस रैली के माध्यम से विपक्षी एकता का भी प्रदर्शन किया जाएगा। शहर के मध्य में स्थित ब्रिगेड परेड में आयोजित होने वाली रैली में सभी प्रमुख विपक्षी दलों के नेताओं को आमंत्रित किया गया है। विशाल रैली में मुख्यमंत्रियों अरविंद केजरीवाल, एच कुमारस्वामी, एन चंद्रबाबू नायडू के अलावा पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवगौड़ा, पूर्व मुख्यमंत्री फारूक अब्दुल्ला और उमर अब्दुल्ला तथा राजद नेता तेजस्वी यादव, द्रमुक के एम के स्टालिन, असंतुष्ट भाजपा सांसद शत्रुघ्न सिन्हा के अलावा अन्य नेताओं के शामिल होने की संभावना है। ममता बनर्जी के साथ मंच पर समाजवादी पार्टी के प्रमुख अखिलेश यादव, बसपा महासचिव सतीश चंद्र मिश्रा, राकांपा नेता शरद पवार, रालोद नेता चौधरी अजीत सिंह, पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा और अरुण शौरी, पाटीदार नेता हार्दिक पटेल, दलित नेता जिग्नेश मेवाणी और झारखंड विकास मोर्चा के प्रमुख बाबूलाल मरांडी भी मौजूद रहेंगे।लोकसभा में कांग्रेस के नेता मल्लिकार्जुन खडगे भी कांग्रेस की ओर से रैली में शामिल होंगे।  

Dakhal News

Dakhal News 18 January 2019

  कमलनाथ सरकार के मंत्रियों के शपथ ग्रहण समारोह के बाद भोपाल में प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में पहली अनौपचारिक बैठक हुई। बैठक में मंत्रियों ने मुख्यमंत्री कमलनाथ से कहा कि बिजली बिल की वसूली में अधिकारी मनमानी कर रहे हैं। इस पर तत्काल रोक लगाई जाए। सूत्रों के मुताबिक, अनौपचारिक कैबिनेट बैठक में मंत्रियों ने कहा कि बिजली कंपनियां किसानों को नोटिस दे रही हैं। जब्ती बना रही हैं। इससे किसान परेशान हो रहे हैं। इसके साथ ही मंत्रियों ने कर्ज माफी को लेकर भी चर्चा की। उन्होंने कहा कि पार्टी ने इतना बड़ा फैसला लिया है तो इसे किसानों तक पहुंचाना चाहिए कि कांग्रेस ने कर्ज से मुक्ति दिलाई है। मंत्रियों में से डॉ. गोविंद सिंह, सुखदेव पांसे, जीतू पटवारी, तुलसीराम सिलावट, ओमकार सिंह मरकाम व तरुण भनोत ने विचार रखे। सूत्र बताते हैं कि अनौपचारिक बैठक में मुख्यमंत्री नाथ ने मंत्रियों को काम और आने-जाने के लिए समय का ध्यान रखने की नसीहत दी। वहीं, उन्होंने कांग्रेस संगठन को सर्वोपरि बताते हुए कहा कि यह मातृ संस्था है और इसीलिए पहली कैबिनेट की अनौपचारिक बैठक यहां रखी गई है। मंत्रियों से कहा कि वे अपने क्षेत्र और उसके आसपास के क्षेत्र में विकास के काम करें। सबको मिलकर काम करना है और वचन पत्र के हिसाब से काम करें। अनौपचारिक बैठक में शामिल होने के लिए मुख्यमंत्री कमलनाथ और मंत्रियों को भीड़ के बीच से गुजरना पड़ा। पीसीसी के मुख्यद्वार पर कमांडों को खड़ा कर बंद कर दिया गया तो दूसरे प्रवेश द्वार से मंत्रियों का प्रवेश कराया गया। यहां भी भीड़ के कारण पुलिस ने घेरा बनाकर मंत्रियों को भीतर प्रवेश कराया। मुख्यमंत्री को ताले तोड़कर बैठक स्थल तक पहुंचना पड़ा। मंत्रियों को धक्का-मुक्की के बीच अंदर प्रवेश कराया गया। वहीं, लिंक रोड पर शिवाजी चौक से लेकर चिनार पार्क के सामने कई बार जाम के हालात बने।  

Dakhal News

Dakhal News 26 December 2018

मीडिया

संसार तभी आनंद देगा जब इसमें रहने वाला, यहां अपना दैनंदिन जीवन बिताने वाला मनुष्य भावनाओं और संवेदनाओं से भरा होगा। भाव-संवेदना रूपी गंगोत्री के सूख जाने पर व्यक्ति निष्ठुर बनता चला जाता है। आज का सबसे बड़ा दुर्भिक्ष इन्हीं भावनाओं के क्षेत्र का है। जब भी इस संसार में कोई अवतारी चेतना आई है, उसने एक ही कार्य किया- मनुष्य के अंदर से उस गंगोत्री के प्रवाह के अवरोध को हटाना और सृजन-प्रयोजनों में उसे नियोजित करना। कुछ कथानकों द्वारा व दृष्टांतों के माध्यम से इस तथ्य को भलीभांति समझा जा सकता है। देवर्षि नारद एवं वेद व्यास के वार्तालाप के एक तथ्य से स्पष्ट होता है कि मानवीय गरिमा का उदय जब भी होता है, सबसे पहले भावचेतना का जागरण होता है। तभी वह ईश्वर-पुत्र की गरिमामय भूमिका निभा पाता है। चैतन्य जैसे अंतर्दृष्टि-संपन्न् महापुरुष भी शास्त्र-तर्क मीमांसा के युग में इसी चिंतन को दे गए। भाव श्रद्धा के प्रकाश में मनुष्यता, जो कि इस समय में कहीं खो गई है, उसे पुन: पाया जा सकता है। पीतांबरा मीरा जीवनभर करुणा विस्तार का, ममत्व का ही संदेश देती रहीं। जब संकल्प जागता है, तो अशोक जैसा निष्ठुर भी बदल जाता है। अशोक एक मामूली व्यक्ति से अशोक महान बन जाता है। जीसस का जीवन करुणा के जन-जन तक विस्तार का संदेश देता है। दक्षिण अफ्रीका में वकालत सीखने-करने पहुंचे मोहनदास गांधी नामक एक सामान्य शख्स इसी भाव-संवेदना के जागरण के कारण एक घटना मात्र से महात्मा गांधी बन गए और जीवन भर आधी धोती पहनकर एक पराधीन राष्ट्र को स्वतंत्र करने में सक्षम हुए। ठक्कर बापा के जीवन में भी यही क्रांति आई। वस्तुत: अवतारी चेतना जब भी सक्रिय होती है, इसी रूप में व्यक्ति को बेचैन करके उसके अंतर्मन को आमूलचूल बदल डालती है। ये भाव-संवेदना ही है, जो मनुष्य को गहराई से जोड़कर उससे महान कार्य करवा लेती है। पं श्रीराम शर्मा

Dakhal News

Dakhal News 18 January 2019

  TRAI के नए नियम का लागू होने में अब बस महज दो दिन बचे हैं और 29 दिसंबर के बाद से आपका टीवी देखने का अनुभव बदलने वाला है। टेलीकॉम रेगुलेटरी अथॉरिटी ऑफ इंडिया ने हाल ही में निर्देश जारी किए हैं जिसके बाद ब्रॉडकास्ट सेक्टर को अपने कंज्यूमर को चैनल सेलेक्ट करने और उसी के पैसे देने का ऑप्शन उपलब्ध कराना होगा। इसके बाद अब खबरें आ रहीं हैं कि ट्राई के इस आदेश के बाद अब टीवी देखना महंगा होगा। हालांकि, वास्तव में यह सब आपके केबल ऑपरेटर्स और डीटीएच सर्विस प्रोवाइडर पर निर्भर करेगा। फिलहाल डीटीएच सर्विस प्रोवाइडर भी नई कीमतों के आधार पर अपने पैक्स बनाने में लगे हैं। अब तक यह डीटीएच सर्विस प्रोवाइडर्स वेबसाइट्स और अपने चैनल्स के माध्यम से लोगों को नए पैक्स की जानकारी दे रहे हैं। हालांकि, वक्त कम बचा है और आम यूजर के मन में सबसे पहला सवाल यह है कि 29 दिसंबर के बाद क्या होगा, क्या उसने जो पैक ले रखा है वही जारी रहेगा या कोई नए पैक्स डीटीएच सर्विस प्रोवाइडर्स उपलब्ध करवाएंगे। साथ ही इनकी कीमतों को लेकर भी असमंजस बना हुआ है। इसलिए, हम आपको आज स्टार, जी, सोनी व अन्य चैनल ब्रॉडकास्चर्स द्वारा घोषित किए गए चैनल्स के दामों और पैक्स के हिसाब से होने वाले खर्च की जानकारी देने जा रहे हैं। यह तो साफ है कि अब तक आप जो फ्री टू एयर चैनल्स मुफ्त में देख रहे थे अब वो मुफ्त में नहीं मिलेंगे और उसके लिए आपको 130 रुपए चुकाने होंगे जिस पर 18 प्रतिशत जीएसटी लगने वाला है। इसके अलावा हिंदी में देखे जाने वाले ज्यादातर चैनल्स सोनी, जी, स्टार व कलर्स के होते हैं। साथ ही कुछ अन्य भी है जिनके न्यूज चैनल्स देखे जाते हैं। अगर ब्रॉडकास्टर्स द्वारा घोषित किए गए आ ला कार्टे और बैक्वेट चैनल्स की कीमतों पर नजर डालें तो लगता है कि जहां तक अपनी पसंद के चैनल चुनने की बात है तो इसमें कुछ चैनल्स के पैकेज सस्ते हैं वहीं कुछ चैनल्स आ ला कार्टे के माध्यम से चुनना फायदेमंद होगा। हालांकि, डीटूएच सर्विस प्रोवाइडर्स ने इसे लेकर अब तक कोई जानकारी अपने ग्राहकों को उपलब्ध नहीं करवाई है कि उन्हें कैसे अपने पैक अपडेट करवाने होंगे। जैसा कि बताया जा रहा है आपका खर्च बढ़ेगा, यह संभव है लेकिन तब जब वर्तमान के हिसाब से उन चैनल्स को भी सबस्क्राइब करें जिन्हें आप खबी देखते भी नहीं। वहीं ट्राई का नया नियम कहता है कि अब आप वही चैनल्स देखेंगे जो आप चाहते हैं और उन्हीं का पैसा चुकाना होगा। इस आधार पर ब्रॉडकास्टर्स ने अपनी वेबसाइट्स पर बैंक्वेट और आ ला कार्टे के आधार पर चैनल्स की कीमतें दी हैं। बैंक्वेट्स में उन चैनल्स का शामिल किया गया है जो यूजर द्वारा सबसे ज्यादा देखे जाते हैं। स्टार ने अपने 49 रुपए के पैक में 13 सबसे ज्यादा देखे जाने वाले चैनल्स रखे हैं इनमें मूवी, एंटरटेनमेंट, जनरल नॉलेज और स्पोर्ट्स के सभी चैनल्स मौजूद हैं। हालांकि, अगर आप स्पोर्ट्स के चैनल्स नहीं देखना चाहते तो आपके लिए आ ला कार्टे ठीक रहेगा जिसमें सिर्फ स्टार प्लस, स्टार गोल्ड, स्टार गोल्ड सिलेक्ट, मूवीज ओके, नेशनल जियोग्राफी और नेट जियो वाइल्ड चुनते हैं तो आपको 37 रुपए ही खर्च करने होंगे। वहीं अगर आप इसमें एक भी स्पोर्ट चैनल एड करते हैं तो आपके आ ला कार्टे का खर्च सीधे 54 रुपए हो जाएगा। जी ने भी अपने 24 सबसे ज्यादा पसंद किए जाने वाले चैनल्स का पैक पेश किया है और इसकी कीमत 45 रुपए है। जी के चैनल्स के मामले में बैंक्वेट पैक ज्यादा बेहतर नजर आता है क्योंकि 45 रुपए में यूजर को सभी जरूरी चैनल्स मिलते हैं। वहीं अगर वो आ ला कार्टे करता है तो महज 4-5 चैनल्स जिमें जी टीवी, जी सिनेमा, एंड पिक्चर्स, एंड टीवी जैसे चैनल्स के लिए ही 50 रुपए से ज्यादा चुकाने पड़ जाएंगे, ऐसे में न्यूज और स्टेट न्यूज के अलावा एंटरटेनमेंट के अन्य चैनल्स नहीं मिल पाएंगे। सोनी चैनल्स के मामले में भी कंपनी 31 रुपए में बैंक्वेट पैक लॉन्च किया है जिसमें 9 सबसे ज्यादा पसंद किए जाने वाले चैनल्स हैं। इस चैनल के मामले में भी बैंक्वेट पैक चुनना ही बेहतर होगा क्योंकि आ ला कार्टे करने में सोनी सब, सोनी चैनल, सेट मैक्स के दाम ही लगभग 50 रुपए हो जाते हैं। वहीं स्पोर्ट्स चैनल्स का खर्च तो अलग ही है। हालांकि, सोनी ने अपने 31 रुपए वाले पैक में स्पोर्ट्स चैनल्स नहीं रखे हैं और इन्हें देखने के लिए 69 रुपए का प्लैटिनम पैक बनाया है जिसमें सभी बड़े चैनल्स शामिल हैं। टाइम्स, जिस्कवरी व अन्य ने मिलकर अपने अलग चैनल पैक्स लॉन्च किए हैं और बड़े ब्रॉडकास्टर्स के मुकाबले इन पैक्स के दाम कम हैं। मसलन डिस्कवरी के 8 चैनल्स महज 8 रुपए मे देख उपलब्ध हैं वहीं डिज्नी के 7 चैनल्स 10 रुपए में। इसके अलावा टाइम्स के 4 चैनल्स 7 रुपए में उपलब्ध होंगे जबकि टर्नर्स के 2 चैनल्स साढ़े चार रुपए में मिलेंगे। वायोकॉम ने भी 20 रुपए में 25 चैनल्स का पैक पेश किया है जिसमें न्यूज, एंटरटेनमेंट, म्यूजिक के अलावा कार्टून चैनल्स भी शामिल हैं हालांकि, आ ला कार्टे में भी इन चैनल्स की कीमत बहुत ज्यादा नहीं है लेकिन इस मामले में भी वायोकॉम का बैंक्वेट पैक ज्यादा बेहतर नजर आता है। हालांकि, यह पूरा आंकलन चैनल कंपनियों द्वारा दी चैनल्स की कीमतों के आधार पर है। इसके बाद डीटीएच सर्विस प्रोवाइडर्स की भूमिका भी बेहद अहम है। अगर आपका डीटीएच सर्विस प्रोवाइडर वर्तमान की ही तरह कोई बजट पैक पेश करता है तो आपका खर्च ज्यादा प्रभावित नहीं होगा।  

Dakhal News

Dakhal News 26 December 2018

समाज

    मुख्यमंत्री  कमल नाथ से सिंबायोसिस स्किल यूनिवर्सिटी की प्रोचांसलर सुश्री स्वाति मजूमदार ने आज मंत्रालय में सौजन्य भेंट की। मुख्यमंत्री श्री नाथ को सुश्री मजूमदार ने स्मृति चिन्ह और वर्ष 2019 का कैलेंडर भेंट किया।

Dakhal News

Dakhal News 18 January 2019

मुख्यमंत्री से मिले प्रोबेशनर अधिकारी   मुख्यमंत्री  कमल नाथ से भारतीय प्रशासनिक सेवा के प्रदेश कॉडर के वर्ष 2017 के प्रोबेशनर अधिकारियों ने आज मंत्रालय में सौजन्य भेंट की। इस अवसर पर महानिदेशक प्रशासन अकादमी श्री ए. पी. श्रीवास्तव भी मौजूद थे।  

Dakhal News

Dakhal News 18 January 2019

पेज 3

  पहले हफ्ते की कमाई में ही 'उरी' ने 70.94 करोड़ रुपए के आंकड़े को पार कर लिया है। इसकी कमाई में खास वो रफ्तार है, जो इसने पहले दिन से कायम की। ऐसी रफ्तार कम बजट की पिछली कुछ हिट फिल्मों ने नहीं दिखाई है। बात कर रहे हैं 'राजी', 'स्त्री', 'सोनू के टीटू की स्वीटी' और 'बधाई हो' की। 'उरी' ने इन फिल्मों के मुकाबले पहले हफ्ते में काफी ज्यादा कमाई की है। 'राजी' ने पहले सप्ताह में 56.59 करोड़ रुपए कमाए थे। 'सोनू के टीटू की स्वीटी' ने सात दिन में 45.94 करोड़ रुपए कमाए थे। राजकुमार राव की 'स्त्री' को टिकट खिड़की पर हफ्तेभर में 60.39 करोड़ रुपए मिले और 'बधाई हो' को 66.10 करोड़ रुपए हासिल हुए थे। बता दें कि इन सभी फिल्मों ने 100 करोड़ से ज्यादा लाइफटाइम कमाई की। 'उरी' को इन सबसे ज्यादा 70 करोड़ रुपए मिले हैं। यह शानदार कमाई है, जो 100 करोड़ तक पहुंचने की राह भी बुलंद करती है। तीन दिन में लागत बाहर कर 'उरी' 2019 की पहली हिट बन गई। तीन दिन तक रोज इसकी कमाई बढ़ती रही और संडे को तो इसने कमाल किया। शुक्रवार के मुकाबले संडे को इसने लगभग दोगुना कमाई की। इस साल रिलीज हुई फिल्मों में किसी ने अपनी लागत भी बाहर नहीं की है। पहले हफ्ते में खास फिल्में नहीं लगी थीं, दूसरे हफ्ते में 'उरी' के साथ 'द एक्सिडेंटल प्राइम मिनिस्टर' रिलीज हुई। अनुपम खेर की फिल्म 'द एक्सिडेंटल प्राइम मिनिस्टर' अभी संघर्ष कर रही है। कम से कम दो हफ्ते यह फिल्म सिनेमाघरों में टिकी रहेगी। 'मणिकर्णिका' के आने के बाद ही इसकी विदाई संभव है। ऐसे में तगड़ी कमाई की उम्मीद है। 'उरी' फिल्म 2016 में भारतीय सेना द्वारा की गई सर्जिकल स्ट्राइक पर बनी है। रिलीज से पहले ही जबरदस्त तारीफ इस मिल रही थी क्योंकि इसे पत्रकारों को दिखाया गया था और सभी इसकी तारीफ कर रहे थे। अनुपम खेर की 'द एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर' को भारत में 1300 स्क्रीन्स मिली थीं और उरी को 2000 से ज्यादा मिली थीं, अब कुछ कम हैं। इस फिल्म में 'देवों के देव महादेव' से खासे लोकप्रिय हुए मोहित रैना भी हैं। यह उनकी पहली फिल्म है। 'उरी' को औसत तीन स्टार की रेटिंग भी मिली है। विक्की कौशल की सिंगल रिलीज की बात की जाए तो यह अभी तक की सबसे बड़ी रिलीज है।  

Dakhal News

Dakhal News 18 January 2019

    शिवसेना प्रमुख बाल ठाकरे की जिंदगी पर बनी फिल्म ठाकरे का ट्रेलर बुधवार को मुंबई में लॉन्च किया गया। फिल्म में बाल ठाकरे का किरदार नवाजुद्दीन सिद्दीकी निभा रहे हैं। ट्रेलर में बालासाहेब के एक सामान्य इंसान से लोकप्रिय नेता बनने की यात्रा को बखूबी दर्शाया गया है। फिल्म में नवाजुद्दीन के लुक खूब चर्चा हो रही है। लगभग 2:54 मिनट के इस ट्रेलर की शुरुआत मुंबई दंगों से होती है। इसके बाद बाल ठाकरे के किरदार में नवाजुद्दीन सिद्दीकी दिखाई पड़ते हैं। ट्रेलर में बाल ठाकरे के जीवन के शुरुआती जीवन को दिखाया जाता है। बाल ठाकरे ने कैसे मराठी मानुष का आंदोलन खड़ा किया, कैसे राजनीति में प्रवेश किया कैसे शिवसेना की स्थापना हुई, बाबरी मस्जिद को लेकर बाल ठाकरे क्या सोचते थे, उनके जीवन की तमाम यात्राओं को ट्रेलर में दिखाने की कोशिश की गई है। लॉन्चिंग इवेंट में फिल्म और राजनीति जगत की कई हस्तियां शामिल हुईं। ठाकरे का परिवार, शिवसेना के कार्यकर्ता भी ट्रेलर लॉन्च इवेंट में मौजूद रहे। बाल ठाकरे की बायोपिक से राजनीतिक विवाद भी शुरू होने की आशंका है। फिल्म से जुड़े जितने भी पोस्टर्स आए हैं उसमें नवाज बाला साहेब के किरदार में अद्भुत नजर आए हैं। अब ट्रेलर आ चुका है और इसमें भी नवाज बेहतर परफॉर्म करते दिखाई दे रहे हैं। इस फिल्म का निर्माण कर रहे सांसद संजय राउत और बाल ठाकरे के बेटे उद्धव ठाकरे भी इस खास मौके पर मौजूद थे।  

Dakhal News

Dakhal News 26 December 2018

दखल क्यों

    अम्बिकापुर में  स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने कहा है कि छत्तीसगढ़ में इसी साल अक्टूबर के महीने से यूनिवर्सल हेल्थ स्कीम का लाभ प्रदेशवासियों को मिलना शुरू हो जाएगा। उन्होंने कहा कि आयुष्मान भारत योजना के तहत सितंबर महीने तक की राशि बीमा कंपनी के पास जमा है। उक्त अवधि तक छत्तीसगढ़ सरकार यूनिवर्सल हेल्थ स्कीम को व्यवस्थित तरीके से लागू करने उप स्वास्थ्य केंद्रों से लेकर बड़े अस्पतालों तक सारी व्यवस्था सुनिश्चित कर लेगी। अंबिकापुर में चर्चा के दौरान स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने कहा कि आयुष्मान भारत योजना में लगभग 500 प्रकार के बीमारियों के इलाज के लिए जो दर निर्धारित की गई है उससे चिकित्सक संतुष्ट नहीं है। यदि वे उक्त योजना के तहत सुविधाएं उपलब्ध नहीं करा रहे हैं तो यह उनका अपना आउटलुक है। राज्य सरकार को जनता के हित का दायरा बढ़ाना है। हमारा मकसद ज्यादा से ज्यादा लोगों को स्वास्थ्य का अधिकार दिलाना है। इसे एक दायरे तक बांध कर नहीं रखना है। आयुष्मान भारत योजना, प्रधानमंत्री तथा मुख्यमंत्री स्वास्थ्य बीमा योजना के तहत जारी स्मार्ट कार्ड चलायमान हैं। सरकार की मंशा यह है कि प्राथमिक स्तर पर ही लोगों को बेहतर सुविधाएं मिलें। यह बात निकलकर सामने आई है कि पचासी से 90 फीसद लोगों को स्वास्थ्य सुविधा के नाम पर साधारण बीमारियों की दवाइयां और डायग्नोस्टिक सुविधा मिलनी चाहिए। इस व्यवस्था को सरकार मितानिन से लेकर उप स्वास्थ्य केंद्र, प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों में ही उपलब्धता सुनिश्चित करने का प्रयास कर रही है। उन्होंने कहा कि शेष गम्भीर मरीजों के लिए बड़े अस्पताल में व्यवस्था होगी। इसमें इलाज के खर्चे की कोई सीमा निर्धारित नहीं रहेगी। जिसे 10 रुपये की दवा की जरूरत होगी वह भी मिलेगी और जिनके इलाज में 20 लाख खर्च होगा उस खर्चे की भरपाई भी सरकार करेगी। टीएस सिंहदेव ने कहा कि आयुष्मान भारत योजना के तहत बीमा कंपनी को 184 करोड़ से अधिक की राशि देनी पड़ रही है। इसके बावजूद चिकित्सक योजना की सफलता की दर को लेकर असंतुष्ट हैं।    

Dakhal News

Dakhal News 18 January 2019

छत्तीसगढ़-मध्यप्रदेश की सीमा पर राजनांदगांव जिले में शुक्रवार को पुलिस और नक्सलियों के बीच मुठभेड़ हो गई। इस मुठभेड़ के दौरान दोनों ओर से गोलियां चलीं, लेकिन नक्सली मोर्चा छोड़कर भाग गए। मुठभेड़ स्थल पर नक्सली अपना सामान भी छोड़कर भाग खड़े हुए। घटना स्थल से बड़ी तादात में बम बनाने का सामान और नक्सली कैंप के सामान बरामद किए गए हैं। घटना के बारे में जानकारी देते हुए जिले के पुलिस अधीक्षक कमल लोचन कश्यप ने बताया कि गातापार थाना क्षेत्र में स्थित भावे के जंगल में नक्सलियों के जमावड़े की खबर मिली थी। वे यहां कैंप लगाने की तैयारी में थे। यह क्षेत्र मध्यप्रदेश की सीमा से करीब 10 किलोमीटर पहले है। मौके पर फोर्स भेजी गई। फोर्स की आहट लगते ही नक्सलियों ने दूसरी ओर से फायरिंग शुरू कर दी और वहां से भाग गए, लेकिन कैंप का सारा सामना और बम बनाने की सामग्री छोड़ गए। क्षेत्र में अभी भी सघन सर्चिंग जारी है। फोर्स नक्सलियों का पीछा कर रही है।  

Dakhal News

Dakhal News 18 January 2019
Video

Page Views

  • Last day : 2161
  • Last 7 days : 12304
  • Last 30 days : 37175
All Rights Reserved © 2019 Dakhal News.