विशेष

    अमेरिका की ओर बढ़ रहे होंडुरास के हजारों शरणार्थियों का काफिला एक नदी पार करके मेक्सिको के तपाचुला शहर पहुंच गया है। भारी बारिश के बीच उन्हें अस्थायी कैंपों में ठहराया गया है। दूसरी ओर अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने  कहा कि इन शरणार्थियों को अमेरिका की ओर बढ़ने से रोकने के लिए 'सभी प्रयास' किए जा रहे हैं। यदि शरणार्थियों का काफिला इसी तरह बढ़ता रहा तो वे अमेरिका-मेक्सिको सीमा बंद कर देंगे। इससे पहले मेक्सिको प्रशासन ने अपने देश और ग्वाटेमाला के बीच सीमा पर बने एक पुल पर इस काफिले को रोकने का प्रयास किया। लेकिन, कई शरणार्थी नदी में घुस गए और उन्होंने रविवार को फिर से अमेरिका की ओर बढ़ना शुरू कर दिया। पैदल सफर कर रहे इन शरणार्थियों ने थकान के बावजूद बस सेवा लेने की पुलिस की पेशकश मानने से इस आशंका से इन्कार कर दिया कि कहीं उनको वापस न भेज दिया जाए। दूसरी तरफ, ट्रंप ने ट्वीट कर कहा कि अवैध शरणार्थियों को दक्षिणी सीमा पार करने से रोकने के लिए सभी प्रयास किए गए हैं। लोगों को पहले मेक्सिको में शरण के लिए आवेदन देना होगा और अगर वे ऐसा करने में नाकाम रहे तो अमेरिका उन्हें वापस भेज देगा। मेक्सिको सरकार ने भी कहा है कि यदि शरणार्थियों ने उनके यहां शरण नहीं मांगी, तो उन्हें वापस उनके देश भेज दिया जाएगा। स्थिति पर नजर रख रहे संघीय पुलिस कमांडर के अनुसार, करीब 3,000 लोगों का काफिला मेक्सिको में आगे बढ़ रहा है। इसके अलावा तकरीबन एक हजार शरणार्थी अब भी इस उम्मीद में पुल पर फंसे है कि वे अवैध रूप से ग्वाटेमाला के रास्ते मेक्सिको में प्रवेश कर सकें। इन शरणार्थियों में महिलाएं और बच्चे भी शामिल हैं। ग्वाटेमाला के राष्ट्रपति जिमी मोराल्स ने कहा कि होंडुरास से 5,000 से भी ज्यादा शरणार्थी उनके देश आए थे। लेकिन, उनमें से करीब 2,000 स्वदेश लौट गए।

Dakhal News

Dakhal News 23 October 2018

    'मैं देशद्रोही नहीं हूं। मैं और मेरा परिवार पाकिस्तान की जमीन से प्यार करता है। इस वतन से मुहब्बत के चलते ही बंटवारे के वक्त मेरा परिवार यहां आ गया था।' पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने सोमवार को देशद्रोह के मुकदमे की सुनवाई के दौरान अपने बचाव में ये बातें लाहौर में कहीं। नवाज शरीफ ने एक इंटरव्यू में 2008 के मुंबई आतंकी हमले में पाकिस्तान का हाथ होने की बात स्वीकारी थी। उनके इस बयान को देशद्रोह बताते हुए सिविल सोसायटी की सदस्य अमीना मलिक ने नवाज और उनका इंटरव्यू लेने वाले पत्रकार सिरिल अलमीडा पर देशद्रोह का मुकदमा चलाने के लिए याचिका दायर की थी। नवाज के इस बयान पर विवाद के बाद तत्कालीन प्रधानमंत्री शाहिद खाकन अब्बासी ने राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद की बैठक भी बुलाई थी। बाद में अब्बासी ने नवाज से मिलकर उन्हें इस बैठक में हुई चर्चा से अवगत कराया था। इसके लिए मलिक ने अब्बासी पर भी केस किया है। लाहौर हाई कोर्ट में अपना पक्ष रखते हुए नवाज ने कहा, 'जिस व्यक्ति ने देश को परमाणु राष्ट्र बनाया वह देशद्रोही कैसे हो सकता है। हाल में हुए उपचुनाव में जिस व्यक्ति की पार्टी को सबसे ज्यादा वोट मिले वह देशद्रोही कैसे हो सकता है? मैं लाखों देशवासियों का प्रतिनिधित्व करता हूं, क्या वे देशद्रोही हो सकते हैं?' अब्बासी ने भी बैठक की जानकारी नवाज से साझा करने के आरोपों से इन्कार किया। जबकि अलमीडा ने कहा कि वह पत्रकार हैं और उन्होंने केवल इंटरव्यू छापा है। यह कोई देशद्रोह नहीं है। केस की सुनवाई 12 नवंबर तक के लिए स्थगित कर दी गई है।  

Dakhal News

Dakhal News 23 October 2018

राजनीति

  राजस्थान की अशोक गहलोत सरकार पिछली वसुंधरा राजे सरकार के अंतिम छह माह के फैसलों की समीक्षा कराएगी। एक तरफ जहां वसुंधरा राजे सरकार की कथित अनियमितताओं जांच के लिए आयोग गठित करने पर विचार किया जा रहा है। वहीं दूसरी तरफ मंत्रियों की समिति वसुंधरा सरकार के कार्यकाल के अंतिम दौर में हुए फैसलों की समीक्षा करेगी। आयोग हाईकोर्ट के सेवानिवृत जज की अध्यक्षता में बनेगा। इस बारे में अधिकारिक आदेश अगले कुछ दिनों में जारी कर दिए जाएंगे। चुनाव के दौरान मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट ने वसुंधरा सरकार के कार्यकाल में हुई अनियमितताओं की जांच कराने की बात कही थी। अब सत्ता संभालते ही गहलोत और पायलट के बीच वसुंधरा सरकार के दौरान हुए खान,जलदाय,चिकित्सा और आईटी विभागों में हुई अनियमितताओं की जांच कराने को लेकर सहमति बनी है। अशोक गहलोत ने अपने पिछले कार्यकाल में भी वसुंधरा राजे के साल 2003 से 2008 तक सीएम रहते हुए अनियमितताओं की जांच के लिए एन.एन.माथुर आयोग गठित किया था। हालांकि सुप्रीम कोर्ट ने भाजपा की याचिका पर इस आयोग के गठन को रदद कर दिया था । लेकिन इस बार फिर वसुंधरा राजे सरकार के 2013 से 2018 तक के कार्यकाल में हुई कथित अनियमितताओं की जांच कराने को लेकर आयोग बनाने की तैयारी की जा रही है । उधर वसुंधरा राजे सरकार द्वारा कार्यकाल के अंतिम छह माह में लिए गए निर्णयों की समीक्षा के लिए मंत्रियों की उच्च स्तरीय समिति गठित करने का भी निर्णय लिया गया है । इस बारे में अधिकारिक घोषणा अगले कुछ दिनों में हो जाएगी । उल्लेखनीय है कि विपक्ष में रहते हुए गहलोत ने कई बार अफसरों को चेतावनी दी थी कि यदि वे वसुंधरा राजे के कहने पर गलत काम करेंगे तो कांग्रेस के सत्ता में आने पर जांच कराई जाएगी और उन्हे इसका अंजाम भुगतना होगा । सरकार के एक विश्वस्त सूत्र के अनुसार गहलोत सरकार के निशाने पर भाजपा सरकार में मंत्री रहे नेता और कुछ अधिकारी है। इन लोगों पर कई बार भ्रष्टाचार के आरोप लग चुके है । दो आईएएस अफसरों को जेल भी जाना पड़ा है। अब गहलोत सरकार ने इन अफसरों और नेताओं के बारे में पूरी रिपोर्ट तैयार कराई है । यह रिपोर्ट एक सेवािनवृत आईएएस अधिकारी और सीएमओ में तैनात एक अधिकारी ने तैयार की है।   

Dakhal News

Dakhal News 26 December 2018

  भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के टारगेट 'अब की बार 200 पार\" को पाने के लिए पार्टी पूरी ताकत लगा रही है। पार्टी ने सर्वे में कमजोर परफॉरमेंस वाले विधायकों को टिकट बदलने के संकेत दे दिए हैं। पिछले ड़ेढ़ साल के दौरान लगभग 67 विधायकों से मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष ने वन-टू-वन बातचीत की थी। उन सभी को पार्टी के प्रत्याशी केपक्ष में काम करने कहा गया है। सर्वे में बताया गया था कि 67 से अधिक विधायक ऐसे हैं जो अब चुनाव जीतने की स्थिति में नहीं हैं। कई विधायकों के बारे में सर्वे रिपोर्ट में कार्यकर्ताओं की उपेक्षा करने, मुलाकात नहीं करने सहित कई तरह की शिकायतें भी प्राप्त हुई थीं। सत्ता और संगठन पिछले डेढ़ साल से इन्हें कामकाज सुधारने की सलाह दे रहा था। बार-बार उनसे कहा गया था कि कार्यकर्ता नाराज रहेंगे तो आप किसके भरोसे चुनाव लड़ोगे। इसके बावजूद विधायक अपना परफॉरमेंस नहीं सुधार पाए। पार्टी सूत्रों के मुताबिक जिन विधायकों के टिकट काटे जा रहे हैं, उन्हें उनके विधानसभा क्षेत्र की सर्वे रिपोर्ट से काफी पहले अवगत करा दिया गया था। रिपोर्ट में एक-एक वर्ग से लेकर वार्ड-मोहल्ले और गांव में विधायक के कामकाज और कार्यकर्ताओं के साथ उनके समन्वय सहित आम जनता की नजर में उनकी छवि का बिंदुवार उल्लेख किया गया है। गौरतलब है कि इस रिपोर्ट के आधार पर भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के दौरे के वक्त विधायकों के परफारमेंस पर विस्तार से चर्चा हुई थी। इसमें बताया गया था कि लगभग 70 विधायक ऐसे हैं जो अब चुनाव जीतने की स्थिति में नहीं हैं। कमजोर परफारमेंस वले इन विधायकों को लेकर पार्टी की कवायद काफी पहले से चल रही है। हर विधायक के साथ बातचीत में उनके विधानसभा क्षेत्र की सर्वे रिपोर्ट भी साथ रखी गई थी। विधायकों को बाकायदा बताया गया कि उनके इलाके में सरकार की ओर से कितने विकास कार्य करवाए गए हैं। उनके इलाके में कांग्रेस की स्थिति क्या है। दलित वोट बैंक विधायक से कितना नाराज है। अल्पसंख्यक वोटों में विधायक को लेकर किस तरह की नाराजी है। इस तरह हर एक पहलू से विधायकों को अवगत कराया गया था। उन्हें समय भी दिया गया था कि वे अपना परफारमेंस सुधार सकते हैं। विधायकों से कहा था कि कार्यकताओं के साथ समन्वय बढ़ाएं। सर्वे रिपोर्ट में कई विधायकों के बारे में कार्यकर्ताओं की उपेक्षा करने, मुलाकात नहीं करने सहित कई तरह की शिकायतें भी प्राप्त हुई थीं। इसके बाद उन्हें सुधार करने का मौका भी दिया, फिर भी कोई खास बदलाव नहीं आया। बीजेपी के प्रदेश प्रभारी डॉ. विनय सहस्त्रबुद्धे  ने कहा कि जनप्रतिनिधियों के कार्यों का समय-समय पर आकलन होता रहता है। सभी का परफॉरमेंस पार्टी और मुख्यमंत्री के समक्ष स्पष्ट है। पार्टी की राय भी स्पष्ट है कि सिर्फ जीतने वाले प्रत्याशी को ही टिकट दिया जाएगा ।   

Dakhal News

Dakhal News 23 October 2018

मीडिया

खबर इस्तांबुल से । पत्रकार जमाल खशोगी की मौत मामले में सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान पर संदेह बढ़ता जा रहा है। तुर्की के राष्ट्रपति तैय्यिप एर्दोगन ने जोर देकर कहा है कि मामले का नंगा सच सामने लाया जाएगा। उनके बयान के बाद तुर्की सरकार समर्थक मीडिया ने सोमवार को नए दावे किए। मीडिया ने पत्रकार की मौत से सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस को जोड़ा है। बढ़ते अंतरराष्ट्रीय दबाव के बीच सऊदी के बादशाह और क्राउन प्रिंस ने खशोगी के बेटे को सोमवार सवेरे फोन किया और शोक जताया। एर्दोगन ने कहा है कि वह मंगलवार को संसद में खशोगी की गुमशुदगी के बारे में नई जानकारी देंगे। इस्तांबुल में सऊदी अरब के वाणिज्य दूतावास में दो अक्टूबर को दाखिल होने के बाद पत्रकार की हत्या की गई थी। दो सप्ताह तक मामले पर चुप्पी साधे रहने के बाद सऊदी अरब ने स्वीकार किया कि खशोगी की मौत वाणिज्य दूतावास में हुई, लेकिन सहयोगी और विश्व शक्तियों में शामिल देश उसके बयान को परस्पर विरोधी और संतोषजनक नहीं मान रहे हैं। एर्दोगन के सलाहकार ने रियाद के दावे पर सवाल उठाए तुर्की के राष्ट्रपति एर्दोगन के सलाहकार यासिन अक्ताय ने सोमवार को सरकार समर्थित अखबार में लिखा है, 'कोई भरोसा तो नहीं करेगा, लेकिन हैरत जरूर होगी कि 15 प्रशिक्षित लड़ाकों और 60 साल के अकेले निहत्थे खशोगी के बीच मारपीट कैसे हो सकती है? झगड़े की दलील हड़बड़ी में गढ़ी गई है क्योंकि यह साफ हो चुका है कि घटना की सच्चाई शीघ्र ही सामने आ जाएगी। जितना इसके बारे में सोचा जाए उतना ही यह महसूस होता है कि हमारे गुप्तचरों को मूर्ख बनाया जा रहा है।' तुर्की के अखबारों का क्राउन प्रिंस की ओर इशारा तुर्की के सरकार समर्थक अखबार येनि सफाक ने कहा है कि सऊदी सुरक्षा अधिकारी माहेर अब्दुलअजीज मुर्तेब इस अभियान का कथित लीडर था। उसने क्राउन प्रिंस के कार्यालय के प्रमुख बदर अल-अस्केर को हत्या के बाद चार बार फोन किया था। अखबार की एक हेडिंग में लिखा है, 'क्राउन प्रिंस के गिर्द तंग होता जा रहा घेरा।' हुर्रियत दैनिक में प्रकाशित एक कालम में कहा गया है कि नई जानकारी है। क्राउन प्रिंस को जवाबदेही स्वीकार करनी चाहिए और उन्हें पद से हटाया जाना चाहिए। सऊदी के हत्यारा दस्ते ने खशोगी को बांध दिया। इस काम में सिर्फ आठ मिनट लगे और फिर सऊदी फोरेंसिक विभाग में लेफ्टिनेंट कर्नल सलाह मुहम्मद अल-तुबैग्य ने शव के 15 टुकड़े किए। हत्या के बाद 'बॉडी डबल' को सऊदी ने बुलाया लिया निगरानी कैमरे एक वीडियो में एक आदमी को सऊदी वाणिज्य दूतावास से जमाल खशोगी के कपड़ों में बाहर आते देखा गया है। यह आदमी पत्रकार की हत्या के बाद बाहर आया था। सीएनएन ने सोमवार को निगरानी फुटेज जारी किया है। तुर्की के अधिकारियों ने इस आदमी को 'बॉडी डबल' कहा है। यह भी पत्रकार की हत्या करने के लिए भेजी गई सऊदी टीम का सदस्य था। पिछले दरवाजे से निकल कर इस आदमी ने टैक्सी ली अैर इस्तांबुल के मशहूर सुल्तान अहमद मस्जिद तक पहुंचा। वहां एक सार्वजनिक शौचालय में गया। अपने कपड़े बदलने के बाद वह वहां से रवाना हो गया। खशोगी की हत्या के बाद सऊदी अधिकारियों ने शुरू में कहा था कि वह वाणिज्य दूतावास से बाहर आ गए थे। यह सऊदी टीम की योजना के अनुसार कहा गया। बाद में तुर्की के अधिकारियों और मीडिया की जांच के बाद दावा बदल गया।  

Dakhal News

Dakhal News 23 October 2018

  पेड न्यूज को लेकर चुनाव आयोग अभी से काफी सतर्कता बरत रहा है। 2013 के विधानसभा चुनाव में सर्वाधिक 37 पेड न्यूज के मामले बालाघाट में सामने आए थे। कुल 486 शिकायतें हुई थीं, जिनमें 172 को सही पाते हुए खर्च उम्मीदवारों के खाते में जोड़ा गया। मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी वीएल कांताराव ने सभी कलेक्टर और रिटर्निंग ऑफिसरों को पेड न्यूज के मामले में सतर्कता बरतने के निर्देश दिए हैं। मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी ने बताया कि पिछले विधानसभा चुनाव में 486 पेड न्यूज की शिकायतें सामने आई थीं। जिला स्तरीय समिति ने 237 मामलों को पेड न्यूज मानकर प्रकरण पंजीबद्ध कर उम्मीदवरों को नोटिस थमाए थे। 17 मामलों में उम्मीदवारों ने पेड न्यूज को स्वीकार करते हुए खर्च खाते में शामिल करने की सहमति दी थी। वहीं, अपील आदि प्रक्रिया के बाद 155 मामलों को भी पेड न्यूज माना गया और खर्च निर्वाचन व्यय में जोड़ा गया। बालाघाट के बाद उज्जैन में 30, नीमच 18, रीवा 14, खंडवा 13, ग्वालियर 11, इंदौर 8, छतरपुर और कटनी में 6-6 और सतना में चार प्रकरण पेड न्यूज के बने थे। सत्तारूढ़ होने के बावजूद चुनाव के दौरान शिकायत करने में कांग्रेस से आगे भाजपा है। चुनाव आयोग के राष्ट्रीय पोर्टल पर भाजपा ने 46 शिकायतें दर्ज कराई हैं तो कांग्रेस 15 तक ही पहुंच सकी। पोर्टल पर कुल 781 शिकायतें दर्ज हुईं। इनमें से 507 का निराकरण हो चुका है और 274 लंबित हैं। वहीं, मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी कार्यालय में शिकायत देने की बात की जाए तो कांग्रेस बहुत आगे है। यहां कांग्रेस ने आचार संहिता लागू होने के बाद से अब तक 27 शिकायतें दी हैं तो भाजपा की ओर से मात्र आठ शिकायत ही की गईं। आम आदमी और समाजवादी पार्टी की ओर से एक-एक शिकायत दर्ज कराई गई हैं। बाकी 10 शिकायतें अन्य व्यक्तियों की ओर से की गई हैं।  

Dakhal News

Dakhal News 23 October 2018

समाज

देशभर में पटाखों के उत्पादन, उनको बेचने और स्टॉक पर पाबंदी की मांग को लेकर दाखिल याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने बड़ा फैसला सुनाया है। सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले में कहा है कि दिवाली पर लोग रात 8-10 बजे तक ही पटाखे चला सकेंगे। यह आदेश सभी धर्मों के त्यौहारों पर लागू होगा। सर्वोच्च न्यायालय ने यह भी कहा है कि जो पटाखें चलाए जाएं वो कम धुएं और आवाज वाले हों ताकि प्रदूषण ना फैले। सर्वोच्च न्यायालय ने पटाखों की बिक्री पर से भी कुछ शर्तों के साथ रोक हटाई है। इसके तहत पटाखों की ऑनलाइन बिक्री पर रोक लगा दी है। इससे पहले जस्टिस एके सीकरी और जस्टिस अशोक भूषण की पीठ ने कहा, हालांकि यह मामला सोमवार की सूची में शामिल था, लेकिन इस पर निर्णय 23 अक्टूबर को सुनाया जाएगा। शीर्ष कोर्ट ने 28 अगस्त को फैसला सुरक्षित रख लिया था। बता दें कि शीर्ष कोर्ट ने 2017 में दिल्ली-एनसीआर में दीपावली पर पटाखों की बिक्री पर पाबंदी लगा दी थी। दरअसल, वायु प्रदूषण खतरनाक स्तर पर पहुंचने के मद्देनजर सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दायर कर देशभर में पटाखों पर रोक लगाने की मांग की गई थी। पीठ ने इस मुद्दे पर याचिकाकर्ता, पटाखा निर्माता केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की दलीलों को सुनने के बाद कहा था कि पटाखों से स्वास्थ्य पर पड़ने वाले दुष्प्रभाव और इसके व्यापार के बीच एक संतुलन रखना होगा। पीठ का कहना था कि जहां पटाखा निर्माताओं को अपने जीविकोपार्जन का मूल अधिकार प्राप्त है वहीं 130 करोड़ लोगों को भी अच्छे स्वास्थ्य का मूल अधिकार प्राप्त है। सुनवाई के दौरान पटाखा निर्माताओं ने दलील दी थी कि दीपावली के बाद बढ़ने वाले वायु प्रदूषण के लिए सिर्फ पटाखे जिम्मेदार नहीं हैं और सिर्फ इस वजह से पूरे उद्योग को बंद करने का आदेश देना न्यायसंगत नहीं होगा। सुनवाई के दौरान पीठ ने बच्चों में श्वसन संबंधी दिक्कतों के बढ़ने पर चिंता जताते हुए पटाखों पर पूरी तरह से या फिर आंशिक प्रतिबंध लगाने की बात कही थी।  

Dakhal News

Dakhal News 23 October 2018

    उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद जिले का प्रदूषण शुक्रवार को खतरनाक स्तर पर पहुंच गया। दिनभर में प्रदूषण की मात्रा कई बार ऊपर-नीचे हुई। दिन में प्रदूषण बढ़ा तो शाम को कम हुआ और रात को फिर प्रदूषण ऐसे स्तर पर जा पहुंचा कि गाजियाबाद देश के सर्वाधिक प्रदूषित शहरों में तीसरे स्थान पर जा पहुंचा। रात को जिला देश के तीन सबसे प्रदूषित शहरों में शामिल हो गया। जिले का प्रदूषण स्तर रावण पुतला दहन होने के बाद दोगुना हो गया। जिले में शुक्रवार को पीएम-10, 307 प्रति घन मीटर दर्ज किया गया। एयर क्वालिटी इंडेक्स भी शुक्रवार को 314 प्रति घन मीटर दर्ज की गई। देश के सर्वाधिक प्रदूषित पांच शहरों की वायु गुणवत्ता (एयर क्वालिटी इंडेक्स) - भिवाड़ी - 391 - गुरुग्राम - 318 - गाजियाबाद - 314 - नोएडा - 292 - दिल्ली - 280 --- प्रदूषण का स्तर रोजाना बढ़ रहा है। अभी आने वाले दिनों में यह और बढ़ेगा। धूल के मोटे कणों के बढ़ने से समस्या बढ़ रही है। शुक्रवार को भी जिले का वायु प्रदूषण अधिक रहा। -अशोक तिवारी, प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के क्षेत्रीय अधिकारी।

Dakhal News

Dakhal News 23 October 2018

पेज 3

सैफ अली खान ने इस फिल्म की शूटिंग शुरू कर दी है और सैफ इस फिल्म के लिए जी तोड़ मेहनत कर रहे हैं। सूत्र बताते हैं कि इस भूमिका के लिए सैफ अली खान ने अपना पूरा समर्पण दिया हुआ है और वह लगातार इस फिल्म की शूटिंग कर रहे हैंl फिल्म के सेट पर मौजूद सभी लोग उनके इस समर्पण से और दमदार अभिनय से बहुत प्रभावित हैंl वह हर सीन को कई अलग-अलग प्रकार से कर रहे हैं और कम से कम 7 से 10 टेक अलग-अलग अंदाज में दे रहे हैंl ताकि उससे जुड़ा हुआ हर शॉट एकदम परफेक्ट होl ये तो पहले ही घोषित किया जा चुका है कि अजय देवगन इन दिनों एक हिस्टोरिकल ड्रामा 'तानाजी - द अनसंग वॉरियर' बना रहे हैं। इस फिल्म में वो लीड रोल में होंगे और उस योद्धा की राह में जो रोड़ा बनने वाला है उसका किरदार सैफ़ अली खान को सौंपा गया है। सैफ़ ने इस रोल की पुष्टि करते हुए कहा था कि उन्होंने इस फिल्म के लिए शूटिंग शुरू कर दी है लेकिन वो अपने रोल के बारे में बहुत अधिक नहीं बता सकते। लेकिन ये फिल्म बाहुबली जैसी भव्य बनने जा रही है और अजय ने पैट्रियोटिक और हिस्टोरिक जॉनर को बड़ी ही बखूबी से चुना है और बच्चों के लिए ये बड़ी भी रोचक फिल्म होगी। गौरतलब है कि सैफ अली खान फिल्म बाजार के अलावा जल्द फिल्म हंटर में भी नजर आएंगेl फिल्म बाजार में वह एक स्टॉक मार्केट ब्रोकर की भूमिका निभा रहे हैंl यह फिल्म जल्द रिलीज़ होने वाली हैl इस फिल्म में उनके अलावा रोहन मेहरा और चित्रांगदा सिंह की अहम भूमिका हैl

Dakhal News

Dakhal News 23 October 2018

    तनुश्री दत्ता और नाना पाटेकर अब कानूनी तौर पर अपने विवाद का केस लड़ रहे हैं। वहीं अब तनुश्री ने राखी सावंत से 10 करोड़ रुपए मांगे हैं। 'हॉर्न ओके प्लीज' में तनुश्री के फिल्म छोड़ने के बाद उन्हें रिप्लेस करने वाली राखी सावंत ने हाल ही में एक प्रेस कांफ्रेंस के दौरान राखी ने तनुश्री को काफी खरी खोटी सुना दी थी।उन्होंने तनुश्री के बारे में कहा था कि वह ड्रग एडिक्ट हैं। ऐसे में तनुश्री ने तय किया है कि वह अब कानूनी तौर पर राखी से भी मानहानि का मुकदमा लड़ेंगी और यह देखते हुए उन्होंने राखी पर मानहानि का केस दर्ज कर दिया है। साथ ही उनसे दस करोड़ रुपए की मांग की है। बता दें कि राखी ने 2008 के इस मामले के बारे में कहा था कि तनुश्री का बातों पर किसी को भी यकीन नहीं करना चाहिए, चूंकि वह तो ड्रग्स लेकर अपनी वैन में पड़ी रहती थी। राखी ने यह भी कहा था कि अचानक तनुश्री ने टैंटरम शो किया था और इससे प्रोडयूसर को परेशानी हो गयी थी। बाद में राखी ने गणेश आचार्य के कहने पर जाकर इस गाने पर काम किया था। साथ ही उनके पास नाना पाटेकर का फोन आया था कि तुम गाना कर दो.ऐसे में वह फौरन सेट पर पहुंच गयी थीं और नाना के साथ उन्होंने इस गाने को पूरा किया था। बता दें कि तनुश्री के बारे में उन्होंने सिर्फ ड्रग्स वाली बात ही नहीं कही थी, बल्कि तनुश्री को बहुत सारे अपशब्द भी कहे थे। ऐसे में अब तक तो तनुश्री चुप थीं, लेकिन उन्होंने अचानक निर्णय लिया कि वह इस बारे में बात करेंगी और कानूनी तौर पर उन्होंने राखी के खिलाफ मुकदमा ठोका है।

Dakhal News

Dakhal News 23 October 2018

दखल क्यों

इस साल की दीपावली सराफा के लिए उतनी अच्छी नहीं रहने की बात कही जा रही है। भले ही अभी मार्केट में गहनों की नई डिजाइनें आ गई हो लेकिन इन डिजाइनों के अलावा और नई डिजाइन अगर आप चाह रहे हैं तो आपको निराशा ही हाथ लगेगी। बताया जा रहा है कि इसका कारण त्योहारी सीजन के साथ ही इन दिनों चुनावी सीजन का शुरू होना है। इसके चलते त्योहार के ठीक पहले सराफा में बाहर से आने वाले कच्चा माल नहीं आ पा रहा है और अगर पहुंच भी रहा है तो इतना विलंब हो जा रहा है कि माल पहुंचने का कोई मतलब नहीं हो पा रहा है। सराफा कारोबारियों का कहना है कि इसके चलते इस साल दीपावली में कारोबार पिछले सीजन की अपेक्षा 20 फीसद तक कम हो सकता है। एक अनुमान के अनुसार कुछ समय पहले तक त्योहारों को देखते हुए राजधानी में 10 करोड़ का कच्चा माल और बने हुए आभूषण आ रहे थे, लेकिन बताया जा रहा है कि इन दिनों कच्चा माल आने में काफी परेशानी हो गई है। माल मंगाने में होने वाली परेशानियों को देखते हुए बहुत से कारोबारियों ने तो माल मंगाना ही बंद कर दिया है। कारोबारियों का भी कहना है कि गहनों की जितनी नई रेंज मार्केट में आ चुकी है,उसे दीपावली में पेश किया जाएगा। अगले हफ्ते ही सराफा के लिए सबसे महत्वपूर्ण माने जाने वाला पुष्य नक्षत्र भी है,जिसकी वजह से कारोबारी अब माल मंगाने से ज्यादा कारोबार पर ही फोकस करने लगे हैं। कम हुए बाहर के आर्डर बताया जा रहा है कि माल आने में परेशानी को देखते हुए इन दिनों बाहर के आर्डर भी कम हो गए हैं तथा त्योहार की नजदीकी को देखते हुए कारोबारी उनके पास रखे स्टॉक पर ही कारोबार की रफ्तार बढ़ाने की सोच रहे हैं। कारोबारियों का भी कहना है कि इस साल पिछले साल की तुलना में बाहर के आर्डर भी अब काफी कम हो जाएंगे। आ रही परेशानियों को देखते हुए कारोबारी भी हाथ खींचने में लगे हैं। -रायपुर सराफा एसोसिएशन के हरख मालू का कहना है व्यापारी के पास अगर पूरे कागजात मिलते हैं तो उसे किसी भी प्रकार से परेशान नहीं किया जाना चाहिए।  

Dakhal News

Dakhal News 23 October 2018

  छतरपुर में  आदर्श आचार संहिता के दौरान सघन चेकिंग अभियान के दौरान पुलिस ने एक स्कार्पियो वाहन से 60 लाख रुपए कैश जब्त कि या है। पुलिस ने कै श जब्त कर मामला इनकम टैक्स विभाग को सौंप दिया है। उधर जिस डिजियाना कंपनी के वाहन से यह कैश जब्त कि या गया है उसने जिला कलेक्टर को पैन कार्ड नंबर सहित दस्तावेज सौंपे हैं। आगामी विधानसभा चुनाव के मद्देनजर पुलिस द्वारा संपूर्ण जिले में वाहनों की नियमित चेकिंग की जा रही है। इसी के तहत सोमवार को जिला मुख्यालय के महोबा रोड पर आरटीओ कार्यालय के पास पुलिस द्वारा चेकिंग अभियान चलाया जा रहा था। मुखबिर की सूचना पर सरबई से छतरपुर के लिए आ रही एक नीले रंग की स्कॉर्पियो गाड़ी क्रमांक एमपी 16 सी 8759 को रोककर जब पुलिस ने तलाशी ली तो उसमें से 60 लाख रुपए की बड़ी रकम नगद प्राप्त हुई। पुलिस ने स्कॉर्पियो में सवार तीन व्यक्तियों अरविन्द्र कु मार, अनिल सोलंकी और एक अन्य से पूछताछ की और बाद में रुपए जब्त कर मामला इनकम टैक्स विभाग के सुपुर्द कर दिया। सोमवार को जिस स्कार्पियो वाहन से बड़ी रकम जब्त की गई वह वाहन और कर्मचारी जिले में बालू का ठेका लेने वाली डिजियाना कंपनी के हैं। मामले की गंभीरता को देखते हुए छतरपुर जिला आयकर अधिकारी रामचंद्र और अनुविभागीय अधिकारी कमलेशपुरी भी पहुंच गए हैं। कंपनी ने तुरंत इस मामले में सक्रिय होकर छतरपुर कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी रमेश भंडारी के नाम एक आवेदन देकर बताया है कि कंपनी छतरपुर जिले की के न नदी में नेहरा, बारबंद1, बारबंद2, बारीखेड़ा नामक बालू की खदानें चलाती है। पुलिस द्वारा पकड़ी गई रकम कंपनी के एक्सिस बैंक के खाता क्रमांक 917020075930197 में जमा करने के लिए लाया जा रहा था। डिजियाना कंपनी ने अपना पेन नम्बर बताते हुए कहा कि उनकी पकड़ी गई रकम पूरी तरह से वैध है। बहरहाल, मामले का पर्दाफाश आयकर विभाग की जांच के बाद माना जा रहा है।  

Dakhal News

Dakhal News 23 October 2018
Video

Page Views

  • Last day : 2161
  • Last 7 days : 12304
  • Last 30 days : 37175
All Rights Reserved © 2019 Dakhal News.