ट्रंप ने पीएम मोदी की थपथपाई पीठ, विकास दर को बताया बेहतर
ट्रंप ने पीएम मोदी की थपथपाई पीठ

ट्रंप ने पीएम मोदी की थपथपाई पीठ, विकास दर को बताया बेहतर

वियतनाम में चल रहे APEC समिट में अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने भारत के पीएम मोदी की जमकर तारीफ की। अमेरिकी राष्ट्रपति ने देश को तरक्की की रफ्तार पर बढ़ाने के लिए पीएम मोदी की नीतियों को सही माना।

APEC के सालाना सम्मेलन से अलग शुक्रवार को मुख्य कार्यकारी अधिकारियों( सीईओ) के सम्मेलन को संबोधित करते हुए भारत की 'असाधारण' आर्थिक प्रगति की भी सराहना की है। साथ ही एशिया-पैसिफिक के बजाय 'इंडो-पैसिफिक' की पैरोकारी कर दुनिया और क्षेत्रीय ताकतों को संदेश दिया है।

अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा कि पीएम मोदी भारत जैसे एक विशाल देश के लोगों को साथ लाने की दिशा में सफलतापूर्वक काम कर रहे हैं।

ट्रंप के मुताबिक, APEC से बाहर के देश भी इंडो-पैसिफिक क्षेत्र में जबरदस्त प्रगति कर रहे हैं। उन्होंने कहा, 'अर्थव्यवस्था को बाहरी दुनिया के लिए खोलने के बाद से भारत ने असाधारण विकास किया है। इससे देश में लगातार बढ़ रहे मध्य वर्ग के लिए मौकों की नई दुनिया सृजित हुई है। भारत स्वतंत्रता की 70वीं वर्षगांठ मना रहा है, जो यह दर्शाता है कि 1.3 अरब की जनसंख्या वाला देश सफल संप्रभु लोकतांत्रिक राष्ट्र है। भारत दुनिया का सबसे बड़ा लोकतांत्रिक देश भी है।'

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भारत-आसियान और ईस्ट एशिया के शिखर सम्मेलनों में हिस्सा लेने के लिए रविवार को फिलीपींस रवाना होंगे। ट्रंप भी पूर्वी एशिया शिखर सम्मेलन में हिस्सा लेंगे।

अमेरिका के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार एचआर मैकमास्टर के बाद राष्ट्रपति ट्रंप ने भी 'इंडो-पैसिफिक' की पैरोकारी की है। यहां इंडो का मतलब हिद महासागर और पैसिफिक का प्रशांत महासागर से है। ट्रंप ने कहा, 'इंडो-पैसिफिक क्षेत्र में लंबे समय से अमेरिका के साझीदार और मित्र देश रहे हैं। हाल के दशकों में क्षेत्र के विकास की कहानी उस बात को दिखाती है कि लोगों द्वारा अपने भविष्य की जिम्मेदारी खुद लेने पर क्या संभव हो सकता है।'

ट्रंप द्वारा इंडो-पैसिफिक के इस्तेमाल ने भारत, अमेरिका, जापान और ऑस्ट्रेलिया के बीच उस चतुष्कोणीय रणनीतिक सहयोग की अटकलों को हवा दे दी है, जिसके तहत चीन के बढ़ते प्रभुत्व पर नकेल लगाने की बात कही जा रही है।

APEC में दुनिया के 21 प्रभावशाली देश शामिल हैं। वर्ष 1989 में अस्तित्व में आए इस संगठन में एशिया और प्रशांत क्षेत्र में आने वाले देश शामिल हैं। इसका मुख्यालय सिंगापुर में है। इन देशों का वैश्विक अर्थव्यस्था के जीडीपी में 60 फीसद तक की हिस्सेदारी है।

डेनांग में APEC की बैठक में भाग लेने के लिए रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन भी आएंगे, लेकिन उनकी राष्ट्रपति ट्रंप के साथ कोई अलग बैठक नहीं होगी।

क्रेमलिन से जारी बयान में शुक्रवार को यह खास बैठक होने की बात कही गई थी, लेकिन शुक्रवार को सुबह अमेरिकी राष्ट्रपति के व्हाइट हाउस कार्यालय ने इसे नकार दिया। अब परिषद के मंच पर दोनों नेता साथ होंगे, लेकिन अलग से उनकी कोई मुलाकात नहीं होगी।

Dakhal News 11 November 2017

Comments

Be First To Comment....
Video

Page Views

  • Last day : 2444
  • Last 7 days : 15894
  • Last 30 days : 60979
All Rights Reserved © 2017 Dakhal News.